पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
05-19-2021, 12:08 PM,
#21
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 2



एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे


मानवी- मेरी पड़ोसन


PART-9


सुन्दर बदलाव




जब मानवी भाभी मेरे लंड की सवारी कर रही थी तो इस बीच, मैं उसके बूब्स को मसल रहा था, और वो मेरे ऊपर जोर जोर से उछल रही थी मैंने उसकी गांड को पकड़ लिया . उछलते हुए उसने मेरे बालों को सहलाया। कई मिनट की चुदाई के बाद, हम दोनों ज़ोर जोर से कराह रहे थे, मानवी के उछलने से बिस्तर हिल रहा था और उसके नितम्ब जोर से मेरी जंघाओं से टकरा रहे थे और मैं समय-समय पर उसकी गांड पर थप्पड़ मार रहा था।

एक पल बाद, मैंने उसे यह कहते हुए लंड बाहर लिया कि मैं डॉगी स्टाइल में चोदना चाहता हूं, मानवी झट से अपने चारो पैरो पर हो गयी और उसने बेड के फ्रेम को पकड़ लिया और मैंने उसके कूल्हों को पकड़ा और एक झटके के साथ ही मेरा लंड अंदर चला गया और मैं आगे की और झुक कर उसकी गर्दन और पीठ पर किश करने लगा और मेरे हाथ उसके स्तनों पर चले गए और स्तनों और निप्पलों से खेलने लगे फिर, मेरे स्पीड बढ़ती गयी और जब मेरी झांटे उसकी नितम्बो से टकराती थी तो जोर से फट फट की आवाज़ होने लगी । मानवी एक बार फिर से झड़ गयी और मैं उसे झड़ता देख और महसूस कर अपने आप को नियंत्रित नहीं कर सका, और मैंने उसकी चूत के अंदर भारी मात्रा में शुक्राणु का स्खलन कर दिया।

फिर हम दोनों ऐसे ही बिस्तर में गिर गए और एक दूसरो को किस करते रहे फिर हम बाथरूम के अंदर गए और साथ में नहाए और नहाते समय एक-दूसरे के शरीर के हर अंग से खेले और उसके बाद हमने बाथरूम में और फिर किचन में, हॉल में, माणवी के बेड रूम में, मेरे घर के लगभग हर बेड रूम में ड्राइंग रूम में सब जगह हमने सेक्स किया । अगले 2 दिनों और एक रात हमारे प्यार और बार-बार सेक्स करने का गवाह बनी । उन्होंने खाना खाते हुए सेक्स किया, आराम किया और फिर सेक्स किया और हमने खरगोशों की तरह चुदाई की ।

हमने इस तरह 2 दिन और एक रात खूब चुदाई की। 2 दिन के बाद रूपाली और बच्चे रविवार शाम को लौटने वाले थे इसलिए हमनेअलग होने और चीजों को पुनर्व्यवस्थित करने का फैसला किया। मैंने उसे बिदाई से पहले दोपहर में उसके बैडरूम में जब आखिरी बार चोदा और उसके बाद जब मानवी उठी और बाथरूम की ओर बढ़ी, उसकी चूत से उसकी जाँघों से होते हुए उसकी टाँगों के बीच गाढ़े शुक्राणुओं की धारा बह रही थी।

मैंने उसे चेतावनी दी, " भाबी सावधान , कही आप फिर से गिर मत जाना ।" और मैं अपने फ्लैट में लौट आया ।

शाम तक रूपाली और बच्चे ड्राइवर सोनू के साथ वापस आ गए। अगली सुबह सोनू ने मुझे बताया कि आशा कुछ समय बाद सूरत वापस आएगी, जब तक वह मेरी घरेलू जरूरतों का ध्यान रखेगा।

जब से मानवी भाभी ने मेरे साथ सेक्स किया था, तब से उनका जीवन पहले जैसा नहीं रहा । वह अधिक ऊर्जावान, सुखद और आनंदित हो गई। उसकी दुनिया में भी बदलाव आए, यहां तक कि बच्चों ने भी उसके बदलावों को देखा और मह्सूस किया । पूरे दिन, वह विभिन्न सौंदर्य प्रसाधनों के साथ अपने चेहरे का मेकअप करती थी ताकि शाम तक जब मैं वापस आऊं, तो मुझे उसका चेहरा सुंदर और आकर्षक नजर आये , उसने हमेशा अपने हाथ से चाय का गर्म कप देकर मेरा स्वागत किया। हम दोनों एक रोमांटिक प्रेमी, एक रोमांटिक जोड़े में बदल गए।

मनवी भाभी की चुदाई करने के बाद, मैंने भी अपनी दुनिया में बदलाव देखा था। कार्यालय में काम आसान लग रहा था, और मैं कम समय में अधिक निपुणता से हो रहा था। मेरे आधिकारिक कर्मचारियों ने मुझ में आये परिवर्तनों पर ध्यान दिया, और बहुत प्रशंसा की। मनवी भाभी ने मेरे अलावा, हर चीज में दिलचस्पी खो दी, वह मुझसे प्यार करती थी, और मुझे अपना पति मानने लगी । हम दोनों बहुत खुश थे l


दूसरी तरफ मैं आशा से जल्द से जल्द मिलना चाहता था। मेरी कंपनी का बड़ौदा (जो सूरत से केवल 2-3 घंटे की ड्राइव पर है ) में एक सप्लायर था । मैंने अपने आधिकारिक काम के लिए बड़ौदा की एक दिन की यात्रा की योजना बनाई। जब मैंने सोनू से कहा कि हमें बड़ौदा जाना है तो वह बहुत खुश हुआ। सोनू ने मुझसे पूछा कि हम बड़ौदा में कितने समय रुकेंगे। मैंने मुस्कुरा कर कहा सोनू तुम्हारे पास आशा से मिलने का पर्याप्त समय होगा। चिंता मत करो। तब सोनू ने कहा कि उसे उसके लिए उपहार खरीदने के लिए कुछ पैसे चाहिए। मैंने उसे कुछ पैसे दिए और मेरी तरफ से कुछ फल और मिठाई खरीदने के लिए भी कहा।


कहानी जारी रहेगी
Reply

05-25-2021, 05:25 PM,
#22
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 2

एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे

मानवी- मेरी पड़ोसन

PART-10

आशा से मुलाकात 





कुछ दिन पहले ही मुझे मेरी पहले सेक्स की साथी रोजी और रूबी का फ़ोन आया .. उनकी कहानी मेरे अंतरंग हमसफ़र में आप पढ़ सकते है . यहाँ संक्षेप में बता देता हूँ जब मैं स्कूल की पढ़ाई खत्म कर आगे की पढाई के लिए लंदन चला गया और रोजी के पिता जी एक आयुर्वेदिक वैध थे और उसे आयुर्वेद में काफी रूचि थी तो मैंने उसे आयुर्वेदिक डॉक्टर की पढाई पूरी करने के लिए प्रेरित किया तो उसने आयुर्वेदिक डॉक्टर का कोर्स पूरा कर लिया था और रूबी ने नर्सिंग का कोर्स कर लिया था और एक ट्रेनेड दाई बन गयी थी . मोना ने टेलरिंग और फैशन का कोर्स कर लिया था और टीना ने सौंदर्य ट्रीटमेंट करने का कोर्स पूरा कर लिया था और अब वो सब मेरे पास आने को उत्सुक थी तो मैंने उन्हें कुछ दिन इंतजार करने को कहा ताकि मैं उनके लिए यहाँ समुचित व्यवस्था कर सकू l

मैंने एक प्रॉपर्टी एजेंट को कोई अच्छा बड़ा घर ढूंढने को कहा जहाँ उनके रहने और काम के लिए व्यवस्था हो जाए और साथ में वो मुझ से ज्यादा दुर भी न हो ताकि मैं उन्हें सुविधा से मिल सकू l

जहाँ मैं रह रहा था उसके पड़ोस में एक बड़ा दो मंजिली बंगला था, जिसमें 2 भाइयों का संयुक्त परिवार रहता था। उन्होंने अलग होने का फैसला किया लेकिन दोनों भाइयों में से किसी के पास इतना पैसा नहीं था कि वे बंगले को अपने पास रख सके इसलिए उन्होंने बंगले को बेचने का फैसला किया ।

वो परिवार छोटी-मोटी बीमारियों के लिए मेरे पास होम्योपैथिक दवाओं को लेने के लिए आते थे, । मैंने उनसे कभी कोई शुल्क नहीं लिया। उसी शाम को उस परिवार ने मुझे रात के खाने के लिए आमंत्रित किया, मुझे बंगला बहुत पसंद आया, इसके भूतल में एक बड़ा हॉल था, एक तहखाना और पहली मंजिल पर बेड रूम थे, वही मुझे यह भी पता चला कि वे अपना बंगला बेच रहे हैं।

मैंने उस की कीमत की पूछताछ की । परिवार ने कीमत बताई लेकिन उन्होंने कहा कि उन्हें एक उपयुक्त खरीदार नहीं मिल रहा है . उन्हें तुरंत पैसे की जरूरत है क्योंकि दोनों भाइयों ने अलग-अलग घर खरीदने की योजना बनाई है, इसलिए वे तत्काल भुगतान के लिए छूट की पेशकश करने को तैयार थे। मैंने उन्हें बताया कि मेरी कंपनी ने सूरत में एक बंगला खरीदने की योजना बनाई है और मुझे एक उपयुक्त घर ढूंढने का काम सौंपा गया है। मैंने अपने प्रधान कार्यालय से अनुमति लेने के लिए उनसे एक या दो दिन प्रतीक्षा करने का अनुरोध किया।

परिवार ने मुझे बताया कि अगर मैं या मेरी कंपनी इस घर को खरीदने के इच्छुक हैं तो वे कुछ और छूट देंगे। वास्तव में मैं स्वयं और रोजी, रूबी मोना और टीना के लिए इस घर को खरीदने की योजना बना रहा था और अपनी कंपनी का उपयोग एक बहाने के रूप में कर रहा था। रात में ही मैंने उन्हें सौदे की पुष्टि कर दी और उन्हें एक उपयुक्त अग्रिम रुपए भी दे दिए और अंतिम भुगतान और शीर्षक के पंजीकरण के लिए 15 दिन का समय तय किया गया। बंगले में मेरे बेड रूम में एक सांझी दीवार थी . मैंने उनसे ये सौदा हमने ख़रीदा हैं ये बात गुप्त रखने का अनुरोध कियाl

इसके बाद अगले दिन मैं बड़ौदा गया तो मेरा ओफिस का काम लगभग एक घंटे में ही पूरा हो गया और फिर मैंने सोनू के वापिस सूरत चलने को कहा l

सोनू ने कहा , सर, आपकी अनुमति से वह अपनी पत्नी से मिलने जाना चाहता है और मुझसे अनुरोध किया मैं भी उसके साथ चलूँ फिर कुछ देर बाद वापिस चलेंगे और सोनू ने मुझसे कहा कि हो सकता है सर आपको आशा की माँ का घर अपनी हैसियत अनुसार ठीक न लगे तो आप उसे इसके लिए माफ़ कर दीजियेगा . मैं तो ासः से मिलने को उत्सुक था ही मैंने इस अवसर को लपका और तुरंत उसके साथ आशा की माँ के घर जाने को तैयार हो गया।

जब हम वहाँ पहुँचे तो आशा ने मेरा अभिवादन किया और उनकी माँ ने भी उनके घर आने के लिए मुझे धन्यवाद दिया। आशा भी मुझे देखकर भी बहुत खुश हुई, उसने शरमा कर मुझे देखा। मैंने कहा कि आशा की गर्भावस्था की खबर मिलने पर सोनू बहुत खुश है और उसने मुझे भी उसने आपसे मिलने के लिए मना लिया है। मैंने उसे बधाई दी और उसके लिए साथ ने लायी हुई मिठाई और फल और उपहार दिए ।

आशा की माँ ने मुझसे दोपहर का भोजन वहीँ करने का अनुरोध किया लेकिन उस समय आशा माँ को नियमित जाँच के लिए अस्पताल जाना था । इसलिए मैंने अपनी सास के साथ अस्पताल जाने के लिए सोनू को कहा। आशा की माँ जल्दी से त्यार हुई ,नए कपड़े पहने और प्रतिष्ठित कार की सवारी मिलने पर बहुत खुश हुई। । कुछ चाय और नाश्ते मुझे देने के बाद वे अस्पताल के लिए रवाना हो गए । उनके जाते ही मैंने आशा को गले लगा लिया और उसे चूमा और उसे फिर से बधाई दी और कहा मुझे तुम्हारी बहुत याद आती है और उससे जल्द से जल्द सूरत के लिए वापस आने के लिए कहा ।

आशा ने कहा कि उसकी माँ भी उसके साथ आएगी और उनका नौकर का कमरा बहुत छोटा है और उस कमरे में 3 व्यक्तियों को इकट्ठा रहना बहुत मुश्किल होगा इसलिए वह वापस लौटने में देरी कर रही है। मैंने आशा से कहा कि मैं जल्द ही इस समस्या का हल निकाल लूँगा । तब मैंने उसे फिर से चूमा। और कहा आशा मैं तुम्हें चोदना चाहता हूँ। आशा ने कहा कि वह भी मेरे साथ सेक्स करना चाहती है लेकिन हमें इसे बहुत जल्दी से और माँ और सोनू के वापस करने से पहले करना होगा।

तो मैंने फटाक से उसकी साड़ी उतार दी और अपना खड़ा लंड आशा की चूत में खड़े खड़े ही घुसा दिया। और जल्द ही हम दोनों चरमोत्कर्ष तक पहुंचे और झड़ गए । सेक्स के बाद हम दोनों ने अपने कपड़े ठीक किये और आशा ने खाना त्यार कर लिया. जब सोनू आशा की माँ वापिस ले आया तो लंच करने के बाद हम वापस सूरत आ गए।

न तो रूपाली और न ही बच्चों को मेरे और मानवी के गुप्त संबंधों के बारे में हमने कोई भी भनक नहीं पड़ने दी थी । लेकिन अब हमारे लिए नियमित सेक्स करना एक असंभव काम बन गया था। कई बार सुबह सुबह जब मानवी भाभी मुझे चाय देने आती थी तो वो मेरे खड़े लंड की सवारी कर मुझे जगा लेती थी लेकिन यह हर दिन सुबह, या दिन के समय में संभव नहीं था . दिन में मैं कार्यालय ने होता था और घर पर रूपाली की उपस्थिति के कारण भी असंभव था । रात का समय प्रश्न से बाहर था क्योंकि यह हर किसी का ध्यान आकर्षित करता , और हमारे रहस्यों के अनावरण होने का खतरा रात में बहुत ज्यादा था । रविवार बहुत मुश्किल दिन था क्योंकि बच्चे पूरे दिन मौजूद रहते थे।

हां ऑफिस में दिन भर की मेहनत के बाद शाम को जब मैं मानवी भाभी के कंधों के चारों ओर हाथ दाल कर जब हम पार्क में चकार लगाने जाते थे तो मुझे यह हमेशा सुखद लगता था l

पार्क में शाम अधिक सुखद थी क्योंकि शाम को मौसम उपेक्षाकृत सुहाना हो जाता था और वहाँ काफी हलचल रहती थी। बच्चों को यहां और वहां छोटे हॉकर्स के साथ उनकी पसंद की चीजें खरीदते हुए देखा जा सकता था। छोटे बच्चे पार्क में खेल रहे थे। पार्क में कई घास के मैदान और फूलों के बिस्तर थे। यह उन लोगों के लिए एक मार्ग था जो दौड़ना चाहते थे या दौड़ चाहते थे। पार्क के बीच में एक लंबा फव्वारा था। यह प्राकृतिक सौंदर्य का आनंद लेने का स्थान था।



कहानी जारी रहेगी


दीपक कुमार
Reply
05-25-2021, 05:27 PM,
#23
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 2

एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे

मानवी- मेरी पड़ोसन

PART-11

पार्क का निर्जन कोना



समय शाम 7 बजे था, अंधेरा हो रहा था और चांदनी शाम थी, पार्क में उस समय प्राकृतिक दृश्य बहुत सुंदर था। फूलों की खुशबू पूरे वातावरण को एक मधुर आकर्षण दे रही थी । पार्क में कई बेंच थे। ज्यादातर बूढ़े लोग और बच्चे पार्क में थे ।

मैं मानवी भाभी को एक अंधेरी जगह पर ले गया, जहाँ बस कुछ लोग ही इधर-उधर घूम रहे थे। हम वहाँ एक बेंच पर बैठ कर बातें करने लगे। अब शाम के 7:30 बज रहे थे और अंधेरा हो रहा था ।

मैंने अपने बाए हाथ को भाभी की कमर के चारों लपेटा उसे अपनी और खींचा और कुछ सेकंड के लिए बभी के नरम गुलाब की पत्तियो जैसे होंठो पर लगातार गर्म चुम्बन किया , और इस प्रक्रिया में, मेरी जीभ ने उसके मुंह के अंदर की जांच की और मैंने उसकी गर्म जीभ को चूसना शुरू कर दिया। मानवी भाभी ने मेरी लार का स्वाद चखा और अपने गले से लगा लिया। हम दोनों ने अपनी लार का आदान-प्रदान किया।

"काका, मैं आपके बिना नहीं रह सकती। मुझे आपका लंड दिन और रात मेरी चूत के अंदर चाहिए," मनवी भाभी ने उत्साहित होकर कहा।

"धीरज रखो ... मेरी जान , हम बस अपने फ्लैटों के आसपास चुदाई नहीं कर सकते। बच्चे बड़े हो रहे है और फिर रुपाली भी वहां है , और हमें अपने रिश्ते में बहुत सावधान रहना होगा । हमें कोई गड़बड़ नहीं करनी है । " मैंने उसे सांत्वना दी।

"पर काका मैं आपक्से नबहुत प्यार करती हूँ , आई लव यू," मानवी भाभी ने कहा। "मैं भी तुमसे बहुत प्यार करता हूँ ... प्रिय," मैंने उसे अपने आलिंगन में लेते हुए उत्तर दिया।

मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी साड़ी के ऊपर से डाला और उसके बूब्स को दबाने लगा। मैंने चारों ओर देखा कि कोई देख तो नहीं रहा है, लेकिन वहां कोई नहीं था। मैं उसके बूब्स से खेलता रहा और फिर धीरे धीरे उसके ब्लाउस के बटन खोलने लगा। मैंने सारे बटन खोल दिये , और फिर उसकी ब्रा के माध्यम से ऊपर से उसके स्तन दबाने लगा। जिस स्थान पर हम बैठे थे, वह बहुत ही निर्जन और अंधकारमय था, और उस पूरे क्षेत्र में केवल कुछ ही लोग थे जो काफी दूर थे , इसलिए हमे उस समय कोई नहीं देख सकता था। फिर जैसे जैसे अँधेरा गहराने लगा तो धीरे धीरे पार्क खाली होना शरू हो गया लोगों ने पार्क छोड़ना शुरू कर दिया है ।

धीरे-धीरे मैंने उसकी ब्रा को भी उतारना शुरू कर दिया और उसके बूब्स बहार निकाल कर पहले मैंने उन्हें सहलाया फिर उन्हें दबाने लगा। मानवी भाभी तो तैयार ही थी वो धीरे से आह आह ाकरने लगी फिर मैंने अपने होंठों से उसके निपल्स चूसना शुरू कर दिया। मैंने करीब 15 मिनट तक मनस्वी भाभी के बूब्स के साथ खेला और फिर मेरा ध्यान उसकी चूत की तरफ हुआ तो मानवी भाभी ने अपनी ब्रा को नीचे कर दिया और अपने ब्लाउज के बटनो को बंद कर दिया क्योंकि कोई भी कभी भी उधर आ सकता था । मैंने धीरे से अपना हाथ उसकी साड़ी में डाला, फिर उसकी पैंटी के माध्यम से, उसकी चूत में उंगली करने लगा। मैं अब उसकी चूत में अपनी दो उंगलियाँ घुसा रहा था। भाभी ने जल्द ही अपने हाथों को मेरी पैंट के ऊपर से मेरे लिंग पर रख दिया । मेरा लंड सख्त हो गया था और चुदाई के लिए तैयार था।

अचानक, मैंने देखा कि एक बूढ़ा जोड़ा हमारी ओर आ रहा है हमने जल्दी से अपनी पोशाक को समायोजित किया और सामान्य हो बैंठ गए और मानवी भाभी बोली "मुझे यह स्थान जोखिम भरा लगता है। हम किसी एकांत स्थान पर क्यों नहीं जाते?"

"मुझे इस पार्क में एक गुप्त जगह पता है है जहाँ कोई भी हमें देख नहीं पायेगा ," मैंने जवाब दिया।

मैं उसे उस जगह ले गया। मेरे पीछे चलते हुए मनवी भाभी अंदर ही अंदर बेचैन हो रही थी। हम धीरे-धीरे घुमावदार पगडंडी पर चलते टहलते गए, और जो पार्क अंदर बानी हुई एक छोटी पहाड़ी पर पहुँच गए वो रास्ता वाहनों के लिए वर्जित था। हम एक पतले मानव-निर्मित अस्थायी रास्ते से होते हुए वहाँ पहाड़ी के ऊपर पहुँच गए । वहां का वातावरण शांत और एकांत था। आसपास अंधेरा था, लेकिन हम एक दूसरे को चांदनी में देख सकते थे।

जैसा कि मैंने पिछले कई दिनों से देखा है कि उस समय उस क्षेत्र में कोई नहीं था। पार्क के शीर्ष पर छोटे सा मैदान था, कुछ बड़ी चट्टानें इधर-उधर बिखरी हुई थीं. मैदान ऊंची घास, घनी झाड़ियों और कुछ छोटे पेड़ों से घिरा हुआ था। हमें मैदान के एक किनारे के पास एक बेंच मिली जहां से नीचे को सड़क भी देख सकते थे अगर कोई ऊपर आता तो दूर से ही नजर आ जाता. उस समय उस पहाड़ी पर हम दोनों के सिवा कोई नहीं था

बैंच पर बैठकर मैंने मनस्वी भाभी को अपने बगल में बैठने का इशारा किया। मैंने कहा यहाँ कोई नहीं देख सकता, "चलो समय बर्बाद मत करो!" भाभी ने चारो तरफ देखा और फिर मुझे चूमने लगी.

मैंने उसका हाथ अपने लंड पर रख दिया। यह अब तक पूरी तरह से खड़ा था लेकिन जैसे ही उसने छुआ, यह एक कठोर लंड में बदल गया। और पूरे 8 इंच बड़ा हो गया । फिर, मैंने उसके बड़े बूब्स को पकड़ लिया । मैं उन्हें छूने के लिए उत्साहित था। मानवी भाभी ने मेरी बेल्ट खोल दी, मेरी पतलून को उतार दिया और मेरे लंड को मेरे अंडरवियर की ऊपर से ही चाटने लगी ।

मानवी भाभी ने पूछा कि क्या हम झाड़ियों के पीछे जा सकते हैं, मैं आसानी से सहमत हो गया। और एक झाडी के बीच में चले गए जिसमे कोई भी आसानी से नहीं देख सकता था की अंदर कोई है या नहीं

वहाँ मानवी भाभी ने मेरे अंडरवियर को नीचे किया लंड को निकाला और लंड को जोर से चूसना शुरू कर दिया, लेकिन मेरा लंड बहुत बड़ा था और उसके पूरे मुँह में बड़ी मुश्किल से जा रहा था । मनवी भाभी ने मुझसे पूछा कि क्या वह मेरी गेंदों को चाट सकती है, जिससे मैंने अपनी पैंटऔर अंडरवियर को निकाल दिया और उसने मेरे अंडकोष को चूसा जिससे वो चिकने हो गए ।

मैंने उसकी साड़ी, ब्लाउज और ब्रा निकाल दी। वह केवल अपने पेटीकोट में रह गयी थी थी और कठोर बड़े स्तन मेरे और तने हुए थे । फिर मैंने उसका अंडरवियर भी निकाल दिया। मेरे ऊपरी बॉडी पर शर्ट को छोड़कर मैं अपनी कमर के नीचे बिल्कुल नंगा था । मेरा 8 इंच लंबा लंड चांदनी में चमक रहा था और आकार में बड़ा दिख रहा था ।

मैंने उसकी साड़ी को फैला दिया और भाभी साड़ी के ऊपर जमीन पर लेट गई। उसने अपने पैर चौड़े कर दिए। मैंने उसकी योनि के सामने घुटने टेक दिए, और उसकी टाँगे ऊपर उठा ली और पैर उठा कर मेरे कंधों पर रख दिए। मैंने लंड की चूत के द्वार पर टिकाया और उसे जोर से धक्का दिया।

मन्नवी भाभी ने धीमी आवाज़ से चीख कर कहा, "आआआआआआह्ह्ह्ह, मुझे दर्द हो रहा है, जब तक तुम इसे थूक से चिकना नहीं करोगे तुम्हारा यह विशाल लंड मेरी चूत के अंदर एक इंच भी नहीं घुसेगा ।"

मैंने समस्या को समझा और उठ खड़ा हुआ।

"मानवी भाभी, आप इसे चूस लो , और इसे अपनी लार से चिकना कर लो ," मैंने कहा।

मानवी भाभी ने तुरंत उसे चूसना शुरू कर दिया, और उस मेरे लंड पर लार की अधिकतम मात्रा फैला दी। जब लार जमीन पर टपकने लगी तो मैंने उसे लेटने का इशारा किया । जैसे ही वो लेटी फिर एक तेज झटके के साथ मैंने उसकी चूत में लंड को घुसा दिया।

"पुच्छ, अह्ह्ह्ह", जैसे एक बोतल के खुलने की आवाज होती वैसी एक आवाज सुनाई दी और मेरा विशाल लंड मानवी भाभी की चूत में समा गया ।

वो खुश जो गयी और मैंने धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू किये लेकिन जैसे-जैसे मैंने गहराई में प्रवेश किया, मेरी गति बुलेट ट्रेन की तरह बढ़ गई, और वह दर्द में थी। लेकिन कुछ समय बाद, वो मजे लेकर आनद से कराहने लगी ।

मैं उसे चोदते हुए उसके स्तन पकड़ कर दबा रहा था , और उससे बोलै भाभी मैं तुम्हें प्यार करता हूँ।"

मैं उसे चोदते हुए उसके निप्पलों को काट रहा था। कभी-कभी, मैं अपनी जीभ उसके मुँह के अंदर डाल देता, और अपनी लार उसके मुँह के अंदर डाल देता। मानवी भाभी अपने गर्भाशय को स्पर्श करते हुए, अपनी चूत के अंदर मेरे बड़े पिस्टन को चलते हुए महसूस कर मजे ले रही थीं।

वो कराहने लगी, "काकाआआआआअ, और चोदो ... जोर से चोदो ... मुझे चोदो ... ओह्ह्ह्हह्ह्ह्ह।"

कुछ ही पलों में, मानवी भाभी चरमोत्कर्ष पर पहुँच गईं और अपनी चूत की मांसपेशियों को निचोड़ते हुए, विशाल लंड को दबाते हुए, उसकी चूत ने मेरे लंड को जकड़ लिया , फिर झड़ने के कारण चूउसकी मेरे लंड पर पकड़ ढीली हो गई।

मैंने मनवी भाभी से पूछा, "आपको मेरा रस कहाँ चाहिए?"

मानवी भाभी ने जवाब दिया "मेरी चूत के अंदर।"

मेरा पिस्टन जोर जोर से और तेज गति से चलना शुरू हो गया, और फिर मैंने भी उसकी योनि को पूरा अपने वीर्य से भर दिया ।

मनवी भाभी अपनी चूत के छेद में मेरे वीर्य की गर्म धाराओं को महसूस कर आनंदित थी । फिर मैंने प्न लंड बहार निकाल लिया और उसे प्यार से चूमा।


कहानी जारी रहेगी


दीपक कुमार
Reply
06-01-2021, 08:26 PM,
#24
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 2

एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे

मानवी- मेरी पड़ोसन

PART-12

इशारे




घर के पास एक 5 सितारा होटल था और एक दिन होटल की एक सेल्स गर्ल मुझसे मिलने आई और उसने मुझसे होटल के स्विमिंग क्लब में शामिल होने का आग्रह किया। वह लंबी, गोरी और सुंदर थी। लड़कियों के लिए मेरे दिल में हमेशा एक सॉफ्ट कॉर्नर रहा है .

मैं एक नियमित तैराक रहा हूँ इसलिए मैं उस 5 स्टार होटल में तैराकी क्लब में शामिल हो गया जो घर के पास ही था। मैंने बच्चों को तैराकी करने और सीखने के लिए प्रोत्साहित किया। दोनों भाभियाँ भी तैरना जानती थीं इसलिए हम सभी एक परिवार के रूप में उस कस्ब के सदस्य बन गए । सेल्स गर्ल का नाम जूही था। और वह क्लब में पूरे परिवार के शामिल होने पर बहुत खुश थी। चर्चा के दौरान उसने बताया कि अगर उसे एक कॉर्पोरेट सदस्य मिल जाता है तो उसे पदोन्नती मिल जायेगी और उसने इसमें मेरी मदद मांगी ।

मैंने अपने कम्पनी की कर्मचारियों को तैराकी क्लब में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया और मेरी सहायक कविता और स्टाफ के कुछ अन्य सदस्य क्लब में शामिल हो गए और कंपनी होटल क्लब की कॉर्पोरेट सदस्यता ले ली।

सुश्री जूही को तुरंत प्रबंधक के रूप में पदोन्नति मिली और हम दोस्त बन गए। मैं हर वैकल्पिक दिन के साथ-साथ शाम या सुबह के सप्ताहांत में तैराकी के लिए जाने लगा . सुश्री जूही ने क्लब में मेरा विशेष ध्यान रखा और अपने अधीनस्थों को मेरा विशेष ध्यान रखने का निर्देश दिया। जब भी मैं वहां गया, वो होटल के गेट पर या पूल में मुझसे मिलने आती थी । और जब भी मैं पूल में अपने तैराकी की पोशाक में होता था तो वो मेरा लंड को घूरती रहती थी एक दिन मैंने उसे जब घूरते हुए पकड़ लिया तो वो कुछ नहीं बोली बस शर्मा कर रह गयी ..

उसने मुझे सूरत के एक प्रतिष्ठित क्लब में शामिल होने में भी मदद की, जहां मैं शाम के साथ उसके साथ कभी कभी चला जाता था।

स्विमिंग क्लब में मुझे विशेष रूप से होटल के महिला मेहमानों की सुंदरता और स्विमिंग पूल क्लब में तैराकी करते हुए देखना अच्छा लगा।

माणवी भाभी इतने महीनों से सेक्स से वंचित थीं और मैं एक जवान , हम दोनों चुदाई के लिए हमेशा उत्सुक रहते थे । लेकिन यह हमेशा जोखिम भरा था। अक्सर हम दोनों रूपाली और बच्चों को जागने से पहले एक फटाफट चुदाई कर लेते थे , और बहुत बार मैं शाम को चोदने के लिए मानवी भाभी को पार्क की पहाड़ी पर ले जाता था, लेकिन हमेशा पकडे या देखे जाने का डर लगा रहता था । फिर मैं कई बार मानवी भाभी को अपने साथ तैराकी के लिए ले जाता था और जब चेंजिंग रूम में कोई नहीं होता था तो जल्दी से चुदाई कर लेते थे .

मैं रूपाली से छुपा कर मानवी के लिए कई तरह की नवीनतम ब्रा, पैंटी और बहुत सारे सौंदर्य प्रसाधन खरीद कर लाता था जो वो मुझे फिर पहन कर दिखाती थी और फिर एक फटाफट चुदाई होती थी ।

जब कभी हम घर में अकेले होते थे तो या तो मानवी चुपके से मेरी और ओंठो से चुंबन इशारा करती थी या अगर मैं अकेला होता था तो उसे आँख मार देता था ये हमारा सिग्नल था की अब मैं या वो घर में अकेले हैं और ये फटाफट चुदाई करने के लिए हमारा संकेत था और फिर या तो माणवी मेरे कमरे में आती थी मुझे खाना या चाय या कुछ नाश्ता देने या पूछने के बहाने या फिर मैं उसी बहाने से उसके घर जाता और हम फिर घर में किचन समेत बेडरूम या ड्राइंग रूम या टॉयलेट में किसी भी स्थान पर जल्दी से चुदाई कर लेते थे ।

वैसा ये सब बहुत रोमांचकारी था पर यह संतोषजनक नहीं था क्योंकि हम दोनों पकड़े जाने के डर से मुक्त एक दुसरे के साथ लंबा सेक्स सत्र चाहते थे।

इसलिए हम दोनों पास में किसी प्रकार की व्यवस्था करने के लिए सोचने लगे जहाँ हम नियमित तौर पर गुप्त रूप से और सुरक्षित रूप से मिल सकें।

एक महीने का समय खत्म होने को हो गया और तीन दिनों के बाद, रूपाली भाभी ने मेरे घर और खाने पीने का प्रभार संभालना था। उस दिन शुक्रवार था, शाम को पार्क में टहलने के लिए मानवी भाभी मेरे साथ गई और मैंने वहाँ उसकी एकांत देख कर चुदाई की। चलते हुए मैंने उससे कहा कि मैं आज की रात तुम्हारे साथ बिताना चाहता हूँ .. और पूरी रात तुम्हारे साथ सेक्स करना चाहता हूँ। इस छोटे छोटे फटाफट सेक्स में मुझे संतुष्टि नहीं मिलती है । मुझे आपके साथ पूरी रात सेक्स चाहिए। मानवी ने कहा कि चाहती तो वो भी यही है पर जब परिवार के सभी सदस्य घर पर होंगे तो हम इसे पूरी रात कैसे कर सकते हैं।

तब मानवी ने कहा- काका मेरे पास एक आइडिया है आइए!

और उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और हम इमारत की आपातकालीन सीढ़ियों से इमारत में ऊपर चढ़ने लगे और चुपचाप छत पर पहुँच गए ।

मानवी ने कहा- सुबह तक कोई नहीं आता है ! और यहाँ रोशनी भी ठीक है। और दूर दूर तक कोई इमारत भी नहीं है कि कोई हमें देख सके। छत के दीवारें भी ऊंची हैं ये काम यहां सुरक्षित तरीके से पूरी रात सेक्स किया जा सकता है।

मैंने कहा- वाह मानवी वाह! इस सब में आपका दिमाग बहुत तेज चलता है। लेकिन एक ही समस्या है। यहाँ गद्दा नहीं है ।।

फिर मैंने कहा आप चिंता मत करो मैं कुछ व्यवस्था करूंगा। और हम घर वापस आ गए। अगले दिन शनिवार था सब के लिए छुट्टी का दिन। सभी कल सुबह देर तक शांति से सोएंगे।

उसके कुछ देर बाद रूपाली और मानवी दोनों रात के खाने से पहले मेरे पास आईं और उन्होंने बताया कि वे बच्चों के कुछ व्यवहार में कुछ परिवर्तन हो रहे हैं और वे अपनी माताओं के साथ ज्यादा बात नहीं कर रहे हैं। तो अब क्या किया जाना चाहिए।

मैंने सुझाव दिया कि अब से हम सभी लोग एक साथ भोजन करेंगे। और रात के खाने की मेज पर हम सभी के लिए एक नियम बनाएंगे कि वे पिछले रात्रिभोज के बाद से क्या किया है, सभी विवरण सबके साथ साझा करें। सभी बच्चों के लिए मेरे डाइनिंग रूम में एक साथ रात का भोजन करना अनिवार्य होगा, जहां मेरे पास एक बड़ी खाने की मेज थी और इस तरह उन्हें साझा करने और अपने आपसी संबंध मजबूत करने में मदद मिलेगी।

दोनों महिलाओं ने आइडिया पसंद किया और मेरी तारीफ की। और मानवी ने मुझे वह गुप्त इशारा किया।

हम सबने मिलकर डिनर लिया। चूंकि यह पहला संयुक्त डिनर था। भोजन स्वादिष्ट था और आइसक्रीम और मिठाइयाँ खाने के बाद सभी बच्चे और रूपाली जल्द ही सोने चले गए।



कहानी जारी रहेगी
Reply
06-01-2021, 08:28 PM,
#25
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 2

एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे

मानवी- मेरी पड़ोसन

PART-13

छत पर सारी रात






फिर जब वो मेरे पास सब को सुला कर आयी तो मेरे हाथ में एक कंबल था और हम आपातकालीन सीढ़ियों का उपयोग करते हुए छत पर चले गए जो अन्यथा बहुत कम ही उपयोग की जाती थी ।

मानवी ने मुस्कुराते हुए पूछा- इस मौसम में आपको यह कंबल कहाँ से मिला? इतनी ठंड नहीं है। मैंने कहा कि यह आज छत पर गद्दे के रूप में काम करेगा।

और हमने सुरक्षा के लिए छत के दरवाजे बंद कर दिए।

फिर मानवी और मैंने कंबल को छत के बीच में फैला दिया और सेक्स की तैयारी करने लगे।

मानवी ने मुझसे पूछा- क्या तुमने कभी खुले आसमान के नीचे सेक्स किया है?

मैंने कहा हाँ! और ऐसा लगता है कि आपने भी किया है।

मानवी ने कहा- हां, मैंने आपके साथ उस पार्क की पहाड़ी के ऊपर कई बार किया है ।

मैं मुस्कुराया, उसे चूमा और कहा - आप वास्तव में बहुत स्मार्ट हो !

मैंने अपनी जींस की पैंट के साइड से एक ऑयल की बोतल निकाली।

तेल देखते ही मानवी ने गुस्से से भरी आँखों से मुझे घूर कर देखा। मनवी मेरी नियत समझ गई थी ।

मैंने कहा- देखो, तुम्हें पता है कि पीछे से करने के लिए तेल की ज़रूरत होती है। लेकिन अगर आप बुरा न मानें तो मैं करूंगा।

मानवी ने कहा - इसे करने की कोशिश न करें तो बेहतर होगा ! मैंने सुना है पीछे बहुत दर्द होता है। और गांड वर्जिन है।

मैंने मुस्कुराते हुए कहा- आपने राजन के पापा को अपनी वर्जिनिटी दी है, आप मुझे अपनी कुंवारी गांड ही दे दीजिये !

मानवी ने कहा- हां, हम कोशिश कर सकते हैं। लेकिन आपको इसे बहुत धीरे-धीरे करना होगा। और तुम्हारा लंड तो बहुत बड़ा है मुझे बहुत दर्द देगा l

मैंने कहा- ठीक है और इसलिए इसमें बहुत मज़ा भी आयेगा -बेशक मैं बहुत धीरे-धीरे करूँगा। फिर शुरू करते हैं?

मानवी ने कहा - ठीक है। नीचे हर कोई गहरी नींद में है और सुबह देर से उठेंगे ।

मैंने कहा- ठीक है। फिर अपने कपड़े उतारने लगा ।

मैंने अपनी शर्ट उतारनी शुरू कर दी और मानवी ने भी अपने कपड़े उतार दिए।

अब मानवी केवल ब्रा पैंटी में रह गई थी और मैं सिर्फ अपने अंडरवियर में था।

छत परएक बड़ी लिह्य लगी हुई थी जिससे छत पर काफी प्रकाश था, पूरी छत चमकीली थी।

मनवी ने अपनी ब्रा भी उतार दी । मैंने भी उसका और अपना अंडरवियर उतार दिया।

मानवी ने देखा कि मेरा लंड खड़ा होने लगा है। लेकिन यह अभी तक पूरा कड़क है हुआ था ।

तब मानवी ने कहा - क्या हुआ? आज तुम्हारा खड़ा क्यों नहीं हुआ है ?

मैंने कहा- सिर्फ तुम्हारे नर्म गुलाबी होंठ ही अब इसे खड़ा करेंगे!

मानवी ने कहा- सीधे बोलो, मेरा लंड चूसो। आप बहाने क्यों कर रहे हैं?

मैंने कहा- मानवी, प्लीज़ मेरा लंड चूसो।

मैं मानवी के सामने खड़ा था। मानवी मुस्करायी और उसने मेरे लंड की सहलाया और धीरे धीरे चूमने लगी ।

मैंने थोड़ी आह भरी और कहा- चूसो इसे पूरा ।

माणवी ने अब बिना देर किए मेरा पूरा लंड अपने मुँह में ले लिया और उसे अंदर लेती चली गई। मानवी जोर-जोर से लंड को चूसने लगी।

2 मिनट तक मानवी ने खूब चूसा।

मैं बस अहह… अहह… ’कह कर सिसकता रहा । मेरा लंड पूरी तरह से सख्त हो चुका था और चुदाई के लिए तैयार था।

मानवी ने कहा- अब ठीक है, अभी शुरू करो।

मैंने उससे कहा- रुको, मैं तुम गीला कर दू ।

और मैं अपनी पीठ परलेट गया और मानवी को 69 स्थिति में आने को कहा।

मानवी तुरंत उसी तरह से आ गई और अपने हाथ से मेरा लंड पकड़ लिया और अपने मुंह में मेरा लंड ले लिया। उधर मैं उसकी चूत को अपनी जीभ से चाटने लगा।

अब मानवी को भी बहुत मज़ा आ रहा था। उम्म्म… उम्म्म… उम्म्म…उसे मेरा लंड चूसते हुए मज़ा आ रहा था। मेरे चाटने से उसकी चूत चिकनी और गीली हो गई थी।

मानवी ने कहा- अब बहुत हो गया, चलो चुदाई शुरू करते हैं।

वह पल्टी और और लंड को पकड़ कर सीधा मेरे सख्त तने हुए लंड पर बैठ गयी । और मैंने भी ऊपर को एक झटका मारा और मेरा पूरा लंड चूत में घुस गया और अपने रसदार गीले और फिसलते हुए लंड को मानवी के अंदर पूरा ठोक दिया और वो आआआहहहह करके चिल्लाई .. धीरे करो।

माणवी के खुले बाल मेरे चेहरे की तरफ झूल रहे थे और हम दोनों एक दूसरे की आँखों में देख कर मुस्कुरा रहे थे।

अब मानवी ने मेरे लंड पर धीरे-धीरे ऊपर-नीचे होना शुरू कर दिया।

धीरे-धीरे मानवी ने अपनी स्पीड बढ़ानी शुरू कर दी और अपना हाथ मेरी छाती पर रख कर चोदना शुरू कर दिया। मानवी के मुँह से आवाज़ आ रही थी… आह्ह्ह… अह्ह्ह… सी… स्काई… एससीईए… मानवी के बाल, बूब्स सब कुछ ऊपर-नीचे हिल रहे थे। मैंने भी अपने कूल्हों को उसके ताल के साथ ताल में हिलाने लगा । मेरे हाथ उसके बूब्स पर थे और उसके उभरे हुए निप्पलों को छेड़ रहे थे।

हमने लगभग 5 मिनट तक ऐसा ही किया। फिर मानवी थक कर आराम करने लगी । मेरा लंड चूत में था l

मैंने कहा- तुम कंबल पर लेट जाओ। मैं तुम्हें ऊपर से चोदूंगा।

मानवी अपनी जाँघों को फैला कर लेट गई। मैं सामने आया और मानवी को पूरा लंड उसकी चूत पर टिका दिया। और हाथ को माणवी के स्तनों पर रख दिया और धीरे-धीरे पंप करना शुरू कर दिया।

मानवी को बहुत मजा आ रहा था।

फिर बिना देर किए मैंने स्पीड बढ़ानी शुरू कर दी और लंड को तेजी से अंदर बाहर करना और फिर आगे-पीछे करना शुरू कर दिया। मैं मानवी को चोदने लगा। मेरे लंड उसकी चूत में गहराई तक जा रहा था, मानवी को पूरा मज़ा आ रहा था ।


हम दोनों खुले आसमान के नीचे जोर-जोर से कराह कर रहे थे, खुले आसमान में रोशनी के बीच हमारी चुदाई चल रही थी।

फिर थोड़ी देर के बाद जब मैं थक गया तो मैंने लंड को बाहर निकाल लिया और बैठ गया।

मैंने कुछ लम्बी लम्बी सांस ली, और मैं मानवी को फिर से लंड डालने के लिए झुका और उसकी गांड पर हाथ फेरने लगा।

हाथ हटाते हुए मानवी ने कहा - वहाँ नहीं, इसे चूत में डालो और तेल की बोतल ले ली और मुझे देने से इनकार कर दिया

मैंने कहा- प्लीज़ मानवी, प्लीज़ मुझे इजाज़त दीजिए।

मानवी ने कहा- नहीं यार, प्लीज नो नो नो।

मैंने कहा- प्लीज़ मानवी बस एक बार!

मैं ऐसे बैठ गया मानो हड़ताल कर दी हो ।

मानवी मुझे ऐसे बैठे देख मुस्कुरायी और मुझे चूमने लगी और मुझ से कहा - कृपया काका, मुझे चोदो । बीच में मत छोड़ो। ठीक है तुम पहले मेरी चूत को डॉगी स्टाइल में चोदो फिर हम देखेंगे कि हम क्या कर सकते हैं। मैंने उसे चूमा l

मैंने फिर उसे अपने पेट पर लिटा दिया और कूल्हों को उठा लिया और अपने डॉगी स्टाइल में उसके पीछे चला गया। वह तुरंत समझ गई, और खुद अपनी टांगो को और चूत को मेरे लिए खोल दिया और मैंने बिना किसी कठिनाई के उसमें प्रवेश किया। मुझे डॉगी स्टाइल में चोदना बहुत पसंद है ; यह मुझे एक गहरी पहुंच प्रदान करता है और इसमें मैं छोटे से गांड के छेद को देख सकता हूं और निश्चित रूप से, मैं उसे पंप करने के साथ उसकी गांड पीठ नितम्ब और स्तन को प्यार कर सकता हूं। उसने अपने कूल्हों को कस कर पकड़ लिया और जोर से पीछे की धक्का दिया और फिर दोनों एक साथ झड़ गए । मैं उस पर गिर गया और उसे चूमने लगा ।


कहानी जारी रहेगी
Reply
06-01-2021, 08:36 PM,
#26
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 2

एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे

मानवी- मेरी पड़ोसन

PART-14


छत पर सेक्स




कुछ देर बाद मानवी ने लंड को बाहर निकाल कर अपने हाथों में लिया और अपनी चिकनी चूत को मेरे लंड से रगड़ने लगी, ऐसा करने से उसे ऐसा असीम आनंद मिल रहा था कि उसकी आँखें आधी बंद थीं।

मेरे वीर्य उसकी चूत का रस चूत के साथ बाहर लीक हो गया था, लंड को चिकनापन प्रदान करने लगा था। हमने नियंत्रण खोना शुरू कर दिया। उसके स्पर्श से मेरा लंड खड़ा हो रहा था और उसने मेरा लंड चूत पर रख दिया मैंने सोचा अब ये इसे अंदर लेगी । लेकिन उसने इस पल भर की खुशी को यहाँ रोकते हुए, मुझे बिस्तर पर लिटा दिया, मुझ को पीछे की ओर धकेल दिया और वो खुद मेरे लंड पर झुक गई और उसने मेरे लंड को चूमा,

उसने कहा - बोलो मेरे प्यारे… तुम्हें तुम्हारी दोस्त कैसा लगी मजा आया ! उसके स्पर्श से मेरे लंड पहले से ही अपने पूर्ण आकार और कठोरता को वापस पा चुका है।

मैंने मेरी ताकत को इकट्ठा किया और लंड ने इस झटका मार कर सलाम किया और रसदार चुंबन के लिए उसे धन्यवाद कहा था। मानवी ने एक शब्द नहीं कहा लेकिन फिर मैं और मानवी मजे के साथ, हँसे और उसने मेरे लंड को बार-बार चूमना शुरू कर दिया। इससे मुझे मज़ा आने लगा ।

मेरे और मेरे लिंग पर उसने और दया करके उसने लंड को अपने मुँह में भर लिया। मानवी ने पहले मेरा लंड चूसा था लेकिन इस बार उसका ये स्टाइल और भी अनोखा था।

मेरी यौन उत्तेजना भी बढ़ गयी इसलिए मैंने मानवी के पैर मेरे ऊपर खींच लिए। माणवी को इशारा समझने में देर नहीं लगी। उसने अपने पैर मेरे चेहरे के दोनों तरफ रख दिए और अपनी खूबसूरत फूल जैसी फूलती हुई चूत को मेरे मुँह पर रख दिया। मैंने भी इस बार उसे अलग सुख देने के उद्देश्य से अपनी उंगली चूत के दाने को छेड़ते हुए उसकी चूत में घुसा दी और चूत से लेकर गांड तक चाटने लगा।

इस प्रकार उसके शरीर में उत्पन्न कंपन बता रहा था वो कितने आनंद का अनुभव कर रही थी । और सच कहूँ तो, मेरा एक दूसरा इरादा भी मेरी इन हरकतों के पीछे छिपा था।

मानवी की मांसल गोल गांड मुझे शुरू से ही आकर्षित कर रही थी। जब मैंने अपनी जीभ उसकी गांड पर ले गया , तब मनवी को भी मेरे इरादों की पुष्टि मिल गई थी, जिसके लिए उस तेल की बोतल को देखकर उसे इशारा मिला था। लेकिन उस समय मैंने मुख्य कार्यक्रम और मुख्य अतिथि - उसकी रसीली चूत पर ही ध्यान देना उचित समझा।

मैंने माणवी की चूत पर जीभ घुमाना शुरू किया और उसकी चिकनी गांड पर दो से चार थप्पड़ जड़ दिए। साथ ही चूत में दो ऊँगली डाल कर उसकी वासना को बढ़ाने की पूरी कोशिश की।

मानवी जोर जोर से मस्त हो कर मेरा लंड को चूस रही थी। उसने मेरे पैर पकड़ रखे थे और लंड को पूरी तरह से मुँहके अंदर ले जा रही थी और मेरा लंड उसके गले से टकरा रहा था। मेरा लंड उसके मुँह में नहीं आ रहा था क्योंकि यह बहुत बड़ा था। लेकिन उसने उसे पूरी तरह से अपने मुंह में लेने की पूरी कोशिश की और लंड चूसने में मानवी का कौशल अद्भुत था।

अब हम दोनों ही चुदाई करना चाहते थे, मैंने मनवी को अपने ऊपर से हटाया और कंबल पर लेटा दिया। मानवी मेरे निर्देशों का पूरी तरह से पालन कर रही थी। मैंने माणवी के दोनों पैर हवा में पकड़ लिए और उन्हें अपने हाथों में पकड़ कर माणवी के चेहरे की ओर झुक कर किस करने लगा । मैंने उसकी चूत में लंड को सेट करने का काम उस पर ही छोड़ दिया।

मानवी ने मेरा मोटा लंबा, चिपचिपा लंड अपनी चूत के छेद में सेट किया। चूत के रस को मेरे शुक्राणुओं के मिलेजुले रस के कारण चूत पहले से ही चिकनी और चिपचिपी हो गई थी, इसलिए जब उसने चूत के मुहाने पर लंड का अग्रभाग रखा, तो चूत ने अपना मुँह खोल कर लंड का स्वागत किया।

मैंने अपना पूरा लंड एक जोरदार धक्के के साथ उसके अंदर नहीं डाला, बल्कि मैंने सिर्फ लंड का सुपाड़ा ही चूत में डाला, जिसकी वजह से मानवी तड़प उठी और अपने नितम्बों को उठा कर पर ले आयी और लंड को पूरी तरह से अंदर ले गई।

उसके मुँह से आह… आह… आह… ’की आवाज अपने आप ही बाहर आ गई और वह लंड को अंदर बाहर करने के लिए अपनी पीठ को उछालने की कोशिश करने लगी लेकिन मैंने उसे छेड़ना जारी रखा। और वो कोशिस करती रही पूरा लंड अंदर लेने के लिए

अब तक उसे चोदने का मेरा आग्रह भी चरम पर था, इसलिए मैंने उसी समय अपने लंड की पूरी लंबाई चूत की जड़ में डाल दी और ऐसा करते हुए मैंने माणवी के पैर हवा में उसके मुँह की तरफ दबा दिए, जिससे उसने जोर लगाया लंड और भी अधिक चला गया । उसने फिर से अपने कूल्हों को अंदर की तरफ उठाने की कोशिश की। इसलिए इस बार मैंने लंड और अंदर गहरे धकेल दिया।

पूरा लम्बा लंड अपने अंदर लेने के बाद, मनवी खुशी और दर्द से कराह उठी… और फिर मैंने उसे धीरे धीरे चोदना शुरू कर दिया। धीरे-धीरे मेरे कूल्हों को पीछे और आगे की ओर ले जाते हुए चोदने लगा । मानवी ने अपने स्तनों को अपने हाथों में पकड़ रखा था और वह अपने निपल्स के साथ खेल रही थी।

मानवी की चूत की मुलायम और मखमली फीलिंग आने के बाद लंड का मूवमेंट भी तेज़ हो गया और मैंने तेज धक्कों के साथ चोदना शुरू कर दिया… हर धक्के के साथ मेरे मुँह के साथ-साथ उसके मुँह से भी आह उह ओह्ह्ह की कामुक आवाजें आ रही थीं। ।

जैसे-जैसे दो अनुभवी शरीर अपनी काम की प्यास बुझाते गए, प्यास और बढ़ती गई।

सेक्स हमें चरम रोमांच दे रहा था, मैं पहले लंड को चूत के मुँह तक खींचता था, फिर उसी गति से चूत के अंदर धकेलता था। उस समय, हर धक्का हम दोनों को सुख और आनंद से सराबोर कर रहा था ।।

कामुकता, वासना जैसे सभी शब्द अपनी सीमा से परे - मीलों दूर चले गए ...

अहह उउह्ह्ह्ह… ईईईईई अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह अह्ह्ह्ह। चोदो जोर से चोदो ऐसे ही चोदो ... और तेज़ हो जाओ हाँ .. 'ऐसे कई शब्द मानवी के मुँह में समा रहे थे।

मैं भी हर एक झटके के साथ उसकी जाँघों को थपथपा कर मानवी का हौसला बढ़ा रहा था और चुदाई की रफ़्तार बढ़ा रहा था । हमारी आँखें वासना से लाल हो गई थीं।

जल्द ही हमारा किसी चीज पर कोई नियंत्रण नहीं था। हम दोनों एक बार चरमोत्कर्ष पर पहुँच चुके थे, इसलिए इस बार कोई भी चुदाई का ये सत्र जल्दी समाप्त नहीं करना चाहता था और यह 20-25 मिनट से अधिक समय तक जारी रहा।

अब मैं बहुत जोर सांस ले रहा था इसलिए मैं मानवी की तरफ ज्यादा झुक गया था, जिसकी वजह से मानवी को मेरा लंड उसकी योनि के अंदर गहरे तक महसूस होने लगा था।


मानवी कराह रही थी ऐसे ही जोर से करो और तेज आह और तेज ।

चोदो चोदो ऊओह आह तुम दुनिया की सबसे अच्छे चोदू हो ’कहते हुए वह कांपने लगी और चरमोत्कर्ष पर पहुँच कर झड़ गई और उसकी चूत एक बार फिर उसके रस से भर गई। ।

अब लंड के आगे पीछे होने पर चूत से फच फच कच खच्च की आवाज आने लगी। मैंने उसके झड़ने के बाद भी चुदाई जारी रखी।

माणवी ने इसका आनंद लिया और चरमोत्कर्ष के बाद लगभग पांच मिनट तक मेरा साथ दिया ... उसके बाद वह 'मुझे छोड़ दो ... दया करो ... बस करो .. प्लीज ' जैसी प्रार्थना करने लगी।

उसकी बातें मुझे और उत्तेजित कर रही थीं और मैं उसकी जमकर चुदाई कर रहा था।

जल्द ही मेरा शरीर भी अकड़ने लगा। मेरी जीभ लड़खड़ाने लगी। पैर काँपने लगे। और मैंने चरमोत्कर्ष से पहले ही लंड को बाहर निकाल लिया और मैंने अपना वीर्य की धार उसके शरीर पर मार दी जिससे मेरी धार उसका चेहरा उसके स्तनों की घाटी से होते हुए उसकी चूत तक पहुँच गई .


कहानी जारी रहेगी
Reply
06-06-2021, 06:09 AM,
#27
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 2

एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे

मानवी- मेरी पड़ोसन

PART-15

छत पर गुदा सेक्स






कुछ समय बाद जब मेरी अपनी सांस ठीक हुई तो मैंने फिर से उसे चूमा और उसकी गांड को सहलाया तो इस बार मेरा अनुरोध स्वीकार कर लिया गया लेकिन एक शर्त के साथ कि अगर वो दर्द को सहन नहीं कर पाई तो मैं रुक जाऊंगा। और गुदा सेक्स के लिए आगे नहीं बढ़ेंगे, जिसके लिए मैंने कहा कि मैं इसे बहुत धीरे से करूंगा और इसे न्यूनतम दर्द के साथ करने की कोशिश करूंगा।

इस पर मानवी बोली उसने अपने पति के साथ एक बार शादी के बाद शुरू में कोशिश की थी लेकिन उसे बहुत दर्द हुआ था तो फिर नहीं किया .. मानवी ने कहा कि वह थोड़ा दर्द साल लेगी लेकिन अगर दर्द असहनीय हो जाएगा तो वे रुक जाएंगे। जिसके लिए मैं भी यह कहते हुए सहमत हुआ कि मैं आपको खुशी देना चाहता हूं। मैं चाहता हूं कि आप भी इसका आनंद लें।

मैंने उनसे पूछा कि आप चाहते हैं कि मैं तेल का उपयोग करूं या मैं तेल के बिना करूं

भाभी ने जवाब में मुझे तेल की बोतल दी और मुड़ कर अपनी गांड मेरे सामने पेश की और बोली- तुम मेरी कुँवारी गांड को चोदना चाहते हो, ठीक है अब खुश हो?

मैं बहुत खुश हुआ और बोतल ले ली।

मैंने उसकी गांड को ऊपर किया और उसकी गुदा पर काफी सारा तेल डाला और तेल में डूबी एक उंगली से उसे चिकना करना शुरू कर दिया और मैंने उसकी गुदा के अंडे दुबारा बहुत सारा तेल डाला।

शुरू में, मैंने उसके गुदा को बाहर से उँगलियों से दबाया और बहुत सारे तेल के साथ आगे बढ़ाया जब मैंने अपनी उंगली गुदा में डालने की कोशिश की तो माणवी को थोड़ा दर्द हुआ। लेकिन मैं धीरे-धीरे उसकी गुदा पर काम करता रहा ऊँगली को घुमाता रहा और अपनी उंगली का दबाव अंदर की और अंदर बढ़ाता रहा और फिर मैंने धीरे-धीरे अपनी उंगली की मिलीमीटर को मिलीमीटर आगे करता रहा मेरी ऊँगली धीरे धीरे अंदर जाने लगी मैं उससे बार बार पूछता रहा आपको दर्द तो नहीं हो रहा । और फिर जब मेरी एक उंगली उसके गुदा के अंदर थी तो मैंने धीरे से अपनी दूसरी उंगली तो भी तेल से भिगोया और फिर धीरे धीरे अंदर डाली। जब मेरे दोनों उंगलिया अंदर चली गयी तो मैंने उंगलियों और उसके गुदा पर कुछ और तेल डाला और फिर उन्हें आगे और पीछे करना शुरू कर दिया ..

इस तरह उंगली उसकी गुदा को चोदने लगी

मैं उससे पूछता रहा कि क्या तुम उसका आनंद ले रहे हो .. और उसने जवाब में कहा यस यस प्लीज़ ओह्ह आह .. जो मुझे करते रहने के संकेत थे। मेरी दोनों ुंलिया अब आराम से नादर बाहर होने लग गयी थी । और मैंने बहुत सारा तेल लगाकर अपने लंड को चिकना कर दिया और चोदने की स्थिति में आ गया।

मानवी ने कहा- प्लीज आराम से करना !

मैंनेउससे कहा मैंने अभी तक बहुत धैर्य और प्यार के साथ किया है आपको कैसा लगा तो वो बोली आगे भी ऐसे ही करना । मैंने उसे चूमा और धीरे-धीरे उसकी कुंवारी गुदा पर उंगलियों से काम करता रहा । मैं उससे पूछता रहा कि क्या आपको मजा आ रहा है . क्या तुम मुझे रोकना चाहती हो? मानवी बोली मैं आपके लिए इस दर्द से गुजरने को ततपर हूँ. और वो मेरे लंड को अपनी गांड के छेद पर लेने के लिए तैयार थी।

मैंने पूछा- मैं अंदर डालू ?

तो मानवी ने कहा- हम्म।

मैंने अपना लंड उसकी गुदा के छेद पर रखा और थोड़ा धक्का दिया लेकिन मेरे द्वारा लगाए गए चिकनेपन और ताकत वार धक्के के बावजूद मेरा लंड गुदा में नहीं घुसा। मैंने फिर से लंड और गुदा पर ढेर सारा तेल लगाया।

फिर मैंने उसकी कमर को पकड़ा एक साथ से लंड को छेद पर लगाया और फिर धीरे-धीरे लंड पर दबाब बढ़ाते हुए हलके हलके धक्के मारने लगा। तो चिकना होने के कारण लंडमुंड उसकी गांड में फंस गया।

और वह हल्के से दर्द से चिल्लायी … ऊऊ…।

मैंने कहा- प्लीज दर्द जल्दी हो ख़त्म जाएगा और फिर तुम्हें मजा आएगा।

और धीरे से, मैंने अपना खड़ा और कड़क तेल लगा हुआ चिकना लंड उसकी गांड के छेद के अंदर ही थोड़ा सा पीछे किया लिया। और एक जोर के धक्के के साथ लंड उसकी गुदा में घुसा दिया और मेरे लंड का एक इंच उसकी गुदा में घुस गया । । तब मानवी ने फिर से आहें भरीं ... ओह्ह्ह अह्ह्ह एएएएच। … मैंने अपने हाथ उसकी चूत पर रख दिया और उसकी चूत में ऊँगली करने लगा .. उसे मजा आने लग ऑटो दर्द को भो भूलने लगी .. मैंने फिर थोड़ा दबाद और डाला तो मेरे जोर लगाने के कारण मानवी आगे को सरक गयी ।अमीने पुछा भाभी आप ठीक हो तो भाभी ने एक आह भरी, पीछे मुड़ कर देखा और हाँ में सिर हिलाया,

मैंने धीरे-धीरे लंड को पीछे किया और फिर आगे बढ़ना शुरू कर दिया और धीरे-धीरे अंदर की ओर दबाब बढ़ाना शुरू कर दिया। लंड मानवी भाभी की कुंवारी गांड के छल्लो और मांसपेशियों को खोल रहा था।

मैंने थोड़ा तेल और डाला और उसे कहा वो अपनी गुदा में बाहर की और दबाव बनाये । तो भाभी बोली इससे तो लंड बाहर हो जाएगा तो मैंने कहाः नहीं इससे गांड ढीली होगी इससे गुदा के छल्ले खुल जाएंगे और लंड आगे बढ़ जाएगा। मैंने कहा जब मैं तीन (3) कहूंगा तो आप अपने गुदा के छल्ले को ढीला करने की कोशिश करेंगे और मैं आगे बढ़ाऊंगा। फिर मैंने कहा एक दो तीन और मानवी ने ढीला करने की कोशिश की लेकिन ऐसा नहीं हुआ। हमने इसे कुछ बार अभ्यास किया और फिर हम एक साथ करने में सक्षम हो गए क्योंकिलंड के दबाब और हम दोनों के लगातार संयुक्त प्रयास नेगांड के छल्ले को खोल दिया था ।

फिर धीरे-धीरे मैंने धक्के लगाना चालू रखा और मेरा पूरा 9 इंच का लंड उसकी गुदा के अंदर चला गया। तब मैंने उसे चूमा। . उसकी गांड़ बहुत टाइट थी गुदा के छल्ले ने मेरे लंड पर एक मजबूत पकड़ बना ली थी ।

मुझे इस कसावट में बहुत मजा आ रहा था मैंने लंड और गुदा पर अधिक तेल डाला। और फिर धीरे धीरे लंड को एक इंच आगे पीछे एक इंच आगे पीछे करने लगा। धीरे-धीरे मैंने लंड को अंदर बाहर करने की लंबाई को बढ़ाया । मैंने धीरे से गति बढ़ाई और फट फट की आवाज के साथ ... चुदाई शुरू कर दी ।और इस बीच उसकी छूट के दाने को मैं अपनी ऊँगली से छेड़ता रहा

मेरी आहे निकल रही थी - आह्ह… आह्ह… आह्ह… मानवी । आह… धन्यवाद मानवी… आह्ह।

मनवी भी मेरे जोरदार धक्कों के साथ आगे-पीछे होने लगी और जोर-जोर से कराहने लगी।

ऐसे ही मैं 6-7 मिनट तक लगातार धक्के लगाता रहा। और फिर गुदा से लंड को निकाल दिया। उसने कहा कि आप रुक क्यों गए? आप पीछे क्यों हटे .. मैंने कहा आप जोर से कराह रही हैं मैंने सोचा कि यह दर्द था .. उसने कहा कि नहीं प्लीज इसे जारी रखें .. यह मजे की कराहे हैं

फिर से मैंने धीरे-धीरे लंड उसकी गुदा में घुसा दिया .. लेकिन इस बार गुदा की मांसपेशियों के साथ बहुत कम महंत करनी पड़ी क्योंकि अब उसकी गांड के छल्ले ढीले हो हर खुल गए थे और लंड आसानी से अंदर चला गया था और उसे भी अब मजाआने लगा था.. मुझे तो टाइट गांड में मजे आ ही रहे थे

मानवी बोल रही थी - आह्ह… जानू आह… और तेज़ और तेज़… और तेज़ जानू। चोदो ...मजा आ आ रहा है मुझे चोदो और तेज और जोर से ... आह ... जानू। आई लव यू .. जानू

मैं भी बोल रहा था- आह्ह… आह्ह… मानवी… आह्ह्ह। तुम्हे चोदने के लिए…मेरा लंड हमेशा त्यार है मेरी जान आह… आह… मानवी … आह्ह्ह।

फिर हम दोनों 5-6 मिनट तक पूरी स्पीड से चुदाई करते रहे। और हम भी चरमोत्कर्ष के करीब पहुँच गए। मन्नवी अपनी क्लिट की मालिश करती रही। मानवी का पूरा बदन काम्पा और वो पागलों की तरह चिल्लायी - और तेज… आह्ह… जानू और तेज और तेज।

मैं भी झड़ने वाला था और कुछ ही समय में करंट माणवी के पूरे शरीर में दौड़ गया। दोनों मजे से जोनहीं पता था कि जब वेर-जोर से मोन करने लगे…।

मैं उसकी पीठ पर गिरते हुए चुदाई करता रहा। और फिर वो भी अपनी चूत में ऊँगली करते हुए अपनी गर्म गर्म चुदाई करते हुए झड़ गई।

दोनों एक साथ झड़ गए थे और कंबल के ऊपर गिर गए और जोर से हांफने लगे।

इस तरह से उसकी गांड चोदने में लगभग 2 घंटे लग गए, मानवी ने बताया कि उसे बहुत मजा आया । और मैंने कहा कि वह उसे तंग गुदा का बहुत छेद पसंद आया। मानवी ने कहा कि वह चाहती थी कि मैं एक बार और उसकी चूत को चोदु । तो मैंने कहा आपकी इच्छा मेरे लिए आज्ञा है और फिर हमने इस बार चूत की चुदाई की।

एक बार फिर जोरदार चुदाई के बाद हम ने आलिंगनऔर चुंबन किये और सो गए

सुबह जब आँख खुली तो सूरज निकलने वाला था । जब मानवी जाएगी तो उसने देखा कि हम दौड़ने मैं खुले में छत के नीचे नग्न अवस्था में पड़े थे। मानवी ने मुझे झकझोरा- काका प्लीज उठो, देखो सुबह हो गई है।

मैं भी उठा और मानवी छत पर पानी की टंकी के पास गई और वहां एक नल खोला और खुद को साफ किया। तो मैंने कहा- क्यों डरती हो? दूर से देखें तो अभी सूर्य निकला नहीं है । पास में इतनी ऊंची कोई इमारत नहीं है कि कोई भी हमें देख सके। हम उस गेट से बाहर निकलेंगे। वहां कोई नहीं है।

फिर मैंने कहा- मानवी, एक बार और चोदने दो मानवी ने कहा- तुम पागल हो! कृपया समय तो देख लो

मैंने कहा- आज शनिवार की छुट्टी है, कोई जल्दी नहीं उठेगा। आइए, जल्दी से करते हैं।

मानवी ने आइडिया के लिए सहमति जताई हम दोनों फिर से एक दूसरे की बाहों में गिर गए। और हम दोनों ने एक बार फिर से एक बहुत तेज, बहुत जल्दी चुदाई की ।

फिर हमने कपड़े पहने। मैंने सुनिश्चित किया कि रास्ता साफ है ।

और हम चुपके से नीचे आ गए और तुरंत अपने-अपने कमरे में चले गए।


कहानी जारी रहेगी
Reply
06-06-2021, 06:10 AM,
#28
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 3

एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे

रुसी युवती ऐना

PART-1


होटल में ऐना से मुलाकात


मैंने दिन के दौरान आराम किया और शाम को जो पड़ोस का घर खरीद रहा था उस घर के लिए शेष राशि का भुगतान किया. रोजी, रूबी, मोना और टीना को सोमवार सुबह सूरत आने के लिए निर्धारित था ताकि घर के कागज़ अपने नाम करवाए जे सके इसलिए मैं होटल में उनके लिए व्यवस्था करने के लिए गया फिर मैं खुद को तरोताज़ा करने के लिए होटल के पूल में तैरने चला गया । पूल में अंदर जाने से पहले एक रजिस्टर में एंट्री करने की व्यवस्था थी। पूल लगभग निर्जन था और पूल रजिस्टर में प्रविष्टि करते समय मैंने देखा कि मेरे पहले सुश्री एना - होटल गेस्ट और राष्ट्रीयता रूसी नाम के साथ रजिस्टर में एक प्रविष्टि थी।

पूल में मैंने देखा कि शनिवार की शाम थी पर पूल पर ज्यादा लोग नहीं थे बस वहां मैं और एना ही थे एना, लगभग 5 ′ ७ लम्बी , घुंघराले सुनहरे बाल, बहुत चिकनी त्वचा, पतली एथलेटिक शरीर, और 32 डीडी के बड़े स्तन, और बहुत सुन्दर थी ।

जब मैं वहां आया तो वह होटल में वयस्क पूल में अकेले तैर रही थी। उसने एक पतली पारदर्शी दो पीस की बिकिनी पहनी हुई थी जो उसके सुन्दर बदन को ढक कम और दिखा ज्यादा रही थी .. उसे अपने 32 डीडी साइज के स्तन पूल साइड दिखाते हुए बहुत अच्छा लग रहा था .. । उसने नीचे पेटी पहनी थी जो उसकी चूत के होठों और गांड के बीच गई थी। तेज धूप में वह लगभग नग्न थी। वह कुछ पल के लिए तैरती रही ।

जब मैंने स्विमिंग कॉस्ट्यूम्स पहन लिए तब भी हम दोनों पूल एरिया में अकेले ही थे। मेरा तैराकी का अंडरवियर बहुत टाइट और पतला था और इस कारण देखने वाले के लिए कल्पना करने के लिए कुछ भी नहीं छोड़ा हुआ था अर्थात सब कुछ स्पस्ट दिख रहा थ । जैसे ही मैंने उसे लगभग नग्न शरीर में देखा मेरा 9 इंची लंड अकड़ गया और वह भी मेरे लंड को देखती रही। उसे देखते देख मेरे लंड ने बिलकुल सीधा खड़ा हो उसे एक सलाम ठोक दिया ।

मैं जान बुझ कर उसके पास से निकला और उसे बोला .. हाय .. उसने जवाब दिया हाय .. तो वह फिर कुछ देर बाद पूल से बाहर आ गई और पूल क्षेत्र के आखिर में एक ओवरसाइज़्ड लाउंज चेयर पर लेट गयी । मैं आधे घंटे तक तैरता रहा या यो कहिये एना के चारों ओर पानी में मंडराता रहा और जबतक मैं यहाँ तैरता रहा तो उसकी आँखें मुझ पर ही टिकी हुई थीं। और फिर कुछ देर तैरने के बाद मैं पूल क्षेत्र छोड़ना चाहता था।

जब मैं पूल से बाहर निकला तो मैंने एना को एक पूल कुर्सी पर धूप सेंकते हुए देखा , और मुझे आश्चर्य और खुशी हुई क्योंकि वह टॉपलेस हो गयी थी । वह पेट के बल अपनी आँखें बंद किए हुए आराम कर रही थी। यह एक सुंदर नजारा था। मैं बस वहाँ खड़ा रहा , उसके शरीर को घूरते हुए मैंने उसकी पूरी काया को स्कैन किया।

उसके पैर बहुत दूधिया चिकने और लच्छेदार थे, और उसकी सुनहरी त्वचा धूप में चमक रही थी, जिस पर उसने कुछ बॉडी लोशन लगाया होगा l केवल एक चीज जो उसे पूरी तरह से नग्न होने से रोक रही थी, वह उसकी छोटी लाल बिकनी नीचे थी, जो कि उसकी तंग, गोल गांड के बीचो बीच थी . फिर वो अपने स्पॉट पेट से पीठ के बल पलट गयी और उसके बड़े गोल स्तन अब मेरे सामने थे । उनकी हल्की-सी ख़ुशबू और गोर रंग से मैं उन स्तनों में बारे में कह सकता हूँ कि उन्होंने सूरज को ज़्यादा नहीं देखा होगा । उसके प्रत्येक स्तन बाहर की ओर थोड़े उभरे हुए थे। उसके लगभग आधा इंच तक उभरे निप्पल मेरे कल्पना से बड़े थे।

उसे लगभग नग्न देखने के बाद, मैं काफी उत्तेजित हो गया था , मुझे लग रहा था कही मेरा लंड मेरा तंग स्विमिंग अंडरवियर फाड़ कर बाहर ही ना आ जाए और कहीं ये युवती मेरा इस तरह से अकड़ा हुआ लंड देख कर कोई हंगामा न खड़ा कर दे तो मैंने इसे छोड़ना बेहतर समझा तो मैंने वापस जाने का फैसला किया, लेकिन मेरी टांगो ने हिलने से इनकार कर दिया और मेरी निगाहें उस पर इस कदर टिकी हुई थीं कि मैं जब पीछे को हुआ तो मेरा संतुलन बिगड़ा और एक बड़ी आवाज़ के साथ मैं पूल में गिर गया और आवाज सुन कर देखने के लिए वह मुड़ी।

उसे देख मैंने उसके पूल एरिया में रहने तक पूल में ही रहने का फैसला किया और फिर से तैरने लगा l

वह अपनी सीट से उठ गई उसने अपने बालों को अपने तौलिये से सुखाया तो उसके स्तन उछल रहे थे वह अपने शरीर को सुखाते हुए मुझे ही देख रही थी। फिर वह मेरे पास आई और उसे मेरी और आते देख मैंने तैरना बंद कर दिया, ऐसा दिखावा किया जैसे मैं उसके स्तन देखकर पूरी तरह से हैरान हो गया हूँ। उसने अपने स्तन को ढकने का कोई प्रयास नहीं किया और उसने मुझे एक बड़ी मुस्कान दी, मेरे उभरे हुए लंड को देखा, और मुझे आश्चर्यचकित करते हुए मुझसे उसकी मीठी सी आवाज़ में पूछा "हाय, क्या तुम मेरे साथ तैरना चाहते हो?"

मेरी हालत सबसे अच्छी बताई जा सकती है=-अँधा क्या चाहे दो आँखे !!

मैंने कहा "ज़रूर!"

जहां उसका बिकनी टॉप लटका हुआ था वो वहां भाग कर गयी और पहन लिया ..


कहानी जारी रहेगी
Reply
06-06-2021, 06:12 AM,
#29
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 3

एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे

रुसी युवती ऐना

PART-2

जल परी


उस समय ऐना बिना कपडों की जल परी ही लग रही थी जो खिलखिलाती हुई मुझे अपनी ओर आकर्षित कर रही थी


जैसे उसने अपने बिकनी टॉप पर गाँठ बाँध ली और एक उंगली से मुझे अपनी तरफ आने का इशारा किया। मैं उसके पास भागता हुआ गया मेरा एक हाथ उसके पैरों के नीचे, एक उसकी पीठ के नीचे,दाल कर उसे गोदी में उठाया . वह थोड़ी सी हैरान हुई हलके से चिल्लायी ओह्ह्ह , और फिर हंसने लगी और अपने बाहे मेरे गले में डाल दी और मैं उसे उठाये हुए ही उसके साथ पूल में कूद गया। वह खिलखिला कर हसने लगी और बोली मुझे कोई कभी ऐसे पूल में नहीं ले गया है

उसने मुझे अपने कंधों पर हाथ रख कर पानी में नीचे धकेल दिया और फिर जैसे ही वह नीचे आई, उसके स्तन मेरी छाती से छू गए मैंने उसे अपने गले लगा लिया, मेरी बड़ी बाहों को उसके शरीर के चारों ओर कसकर लपेटने से उसके स्तन मेरी छाती से चिपक गए। मैंने अपनी टाँगें उसके नितम्बो के चारों ओर लपेट दीं, जिससे मेरा अकड़ा हुआ लंड जो अंडरवियर से स्पस्ट नजर आ रहा था उसकी लाल बिकनी के निचले भाग से चिपक गया । मैंने एना को गले लगाने के लिए अपने शरीर पर हर अंग का इस्तेमाल किया, और इसमें कोई संदेह नहीं है कि मेरा अकड़ा हुआ लंड उसकी चूत पर अपनी उपास्थिति दर्ज कर रहा था और उसने भी उसे महसूस किया था ।

हालांकि इसमें कुछ भी अजीब नहीं था, क्योंकि मैं उस समय पानी में डुबकी मार कर वापिस आ रहा था और हम दोनों बहुत मज़ा कर रहे थे। हम दोनों हंस रहे थे और पानी में पूरे भीग गए थे । मैं अपनी नंगी त्वचा पर उसके शरीर के हर हिस्से को महसूस कर रहा था । ऐना को खुश देख लग रहा था कि एना को भी मेरे शरीर को महसूस करने में मजा आ रहा था, मैंने मह्सूस किया कि उसके बड़े-बड़े निप्पल सख्त हो रहे थे। वे उसके लाल बिकनी टॉप के माध्यम से मेरी छाती पर अपना प्रभाव छोड़ रहे थे । मैं उसे छूने और उसके स्तन को देखने से काफी उत्तेजित हो गया था।

उसके बाद मैंने उसे गले लगाया, तो वो हसने लगी और उसने तैर कर मुझ से दूर जाने की कोशिश की, मैंने उसके टखनों से पकड़ लिया और उसे वापस अपने पास खींच लिया, और जब मेरे पास उसका पूरा नियंत्रण था, तो मैंने उसके द्वारा की क्रिया की नकल करने का फैसला किया, और मैंने उसे अपने सामने पानी के नीचे दबाया । जैसा ही मैंने उसे उसके सिर से नीचे धकेल दिया, वह नीचे पानी में डुबकी लगाने गई और उसका चेहरा मेरे लंड को छु गया । वाह!

अब तक, मेरा लंड बिलकुल कठोर हो पूरा अकड़ गया था और पानी में एक लाल गर्म स्टील की छड़ की तरह तना हुआ खड़ा था. मैंने फैसला किया कि शायद अब मुझे रुक जाना चाहिए और अपने विशाल लंड के इस तरह से खड़े हो जाने को इस अनजान सुंदरी से छुपाना चाहिए, इसलिए मैंने एना से दूर जाना शुरू कर दिया।

उसने कहा, " ये कोई तरीका नहीं है कि आप मुझे इस तरह से डुबाएंगे और फिर भाग जाएंगे ये नहीं हो सकता !"

वह मेरे पीछे तैरटी हुई आयी और उसने मुझे पकड़ लिया लेकिन मैंने तैरना जारी रखा तो मैं उसके पकड़ से निकल गया तो उसने मुझे और दूर जाने से रोकने के लिए, उसने मेरी कमर पर मेरे स्पीडोस स्विमिंग अंडरवियर को पकड़ लिया। मैंने तैरना जारी रखा उसने मेरा स्विमिंग का स्पीडो कस कर पकड़ा और स्पीडो मेरे बदन से अलग हुआ फिर मेरे पैरो से भी बाहर निकल गया और मेरा स्पीडो उसके हाथ में रह गया और मैं नग्न हो गया । मेरा हमेशा की तरह कठोर और बड़ा अकड़ा हुआ लंड एक स्प्रिंग की तरह तेजी से बाहर निकला और जोर-जोर से तुनक कर ऐना को सलाम मारने लगा।

एना वही रुक कर मेरे स्पीडोस को पकड़े हुए, और मेरे विशाल लंड को देखती रही . मेरे पास अब कोई रास्ता नहीं था कि अब मैं इसे छिपा सकूं। जैसे ही उसने मेरे लंड को देखा, ऐसा लगा जैसे समय जम गया हो, और मैंने देखा कि उसके निप्पल अब एकदम सख्त हो गए थे, और जैसे ही उसने जोर से साँस ली, उसकी लाल बिकनी में उसके बड़े-बड़े स्तन ऊपर नीचे होने लगे . निश्चित तौर पर उसने ये बिकनी अपने स्तनों के विकास होने से पहले ही खरीदी होगी क्योंकि उसकी बिकनी छोटी थी और उसके स्तन उसके मुकाबले बहुत बड़े आकार के थे, और उसके स्तनो को बिकनी की पतली सामग्री उसे केवल पूर्ण नग्नता से ही बचाते थे ।

जब उसने मेरे लंड को अच्छी तरह से देख लिया, तो फिर से हँसने लगी।

उसने कहा "हाहा, अब आप क्या करेंगे, मिस्टर विशाल लंड?" मैंने कहा कि मेरा नाम दीपक है .. वो जोर से हसी और उसने कहा विशाल लण्ड वाले मिस्टर दीपक अब आप क्या करेंगे?

उसकी हसी के साथ शर्म का वो क्षण, उत्तेजना में बदल गया, विशेष रूप से इस तथ्य के कारण कि वह सहज थी और मेरे खड़े हुए कठोर और बड़े लंड को देख वो उत्साहित थी और इस क्षण का मजा ले रही थी.

मुझे जल्द ही एहसास हुआ कि एना को कोई शर्म नहीं थी, और वो इस क्षण का पूरा मजा ले रही थी ।


कहानी जारी रहेगी


Reply

06-06-2021, 07:02 PM,
#30
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 3

एक युवा के अपने पड़ोसियों और अन्य महिलाओ के साथ कारनामे

रुसी युवती ऐना

PART-3

जल पारी के साथ जल क्रीड़ा



तब मैंने एना को कहा, "अब तुम नीचे जा रही हो ...", मैंने उसकी तरफ देखा, मुस्कुराया, और तुरंत उछल कर उसके पीछे तैरने लग गया।

वह उछली और लेकिन उसने मेरा स्पीडो (स्विम वियर) पकडे रखा, जैसे ही वह पूल से बाहर कूदने वाली थी, मैंने उसे पकड़ लिया और पीछे से बाहो में जकड़ लिया । मेरी लम्बी बाँहें उसके धड़ के आसपास उसके स्तन के नीचे पहुँच गईं । जब मैंने ऐसा किया, मेरा खड़ा हुआ 9 इंच का लंड उसकी जांघों के बीच में घुस गया।मेरी जाँघे उसके उसके गोल और कड़े नितंबो से जोर से टकराई और मेरे लंड ने उसकी योनि के ऊपर उसकी बिकनी पर दस्तक दी इसलिए उसने अपने पैरों को कस लिया उसके योनि अभी भी महीन पतली लाल बिकनी के अंदर छुपी हुई थी । मैंने अपने स्पीडो को उससे छीनने का प्रयास करते हुए उसे घुमाया हालाँकि मैं वास्तव में स्पीडो को वापस नहीं लेना चाहता था बल्कि मैं इसे बहाने उसे छूना चाहता था और उसके बदन को खेल खेल में मह्सूस करना चाहता था (और जिस तरह से उसने अपना हाथ दूर किया उससे मुझे भरोसा हो गया की उसका भी कोई इरादा नहीं था कि वह मुझे मेरे स्पीडो वापस लौटा दे)।

फिर वो मेरी पकड़ से फिसली और फिर हम तैर कर एक और दस से पंद्रह मिनट तक ऐसे ही इश्कबाज़ी करते हुए खेलते रहे। मैं उसे पकड़ लेता तो वो हर बार ऐसे की घूम फिसल कर मेरी पकड़ से बाहर हो जाती ।

कुछ देर बाद मैंने उसे फिर से पकड़ा और उसके सामने से इस बार और कस कर लिपट गया । अब मेरा इरादा था उसे पकड़ कर रखने का । मेरी लम्बी बाँहें उसके स्तन के ठीक ऊपर पहुँच गई। जैसे ही मैंने ऐसा किया, मेरा अभी भी अकड़ा हुआ 9 इंच का लंड एक बार फिर उसकी जांघों के बीच में घुस गया। उसने फिर अपने पैरों को कस लिया उसने छूटना का प्रयास किया लेकिन मैंने और कस कर अपने पास भींच लिया और अपने स्पीडो को उससे छीनने का अनमना प्रयास किया ।

जैसे ही मैंने उसे अपने पास खींचा मेरा लंड जो उसकी जांघों के बीच में था, उसने एक दो बार आगे पीछे होने का प्रयास किया जिससे मेरा लंड भी उसके जांघो के बीच अंदर बाहर होने लगा। फिर उसे पकडे रखने और उसके द्वारा छूटने के प्रयास के दौरान मेरा दाहिना हाथ उसके स्तनों पर पड़ा , मेरे दाहिने हाथ ने एना के दाहिने स्तन के ऊपर उसके बिकनी के स्विम सूट को पकड़ लिया, वो छूटने के लिए पीछे हुई और उसके बिकनी ऊपर से फट गयी , जिससे उसका दाहिना चूचा बंद पिंजरे से आज़ाद हो कर मेरी छाती से चिपक गया । उसने क्या हुआ देखने के लिए अपना सर नीचे किया तो देखा उसकी बिकनी परिधान का एक टुकड़ा मेरे हाथ में था। उसने हँसते हुए अपनी बिकनी टॉप को मुझसे वापस लेने की कोशिस की, जबकि मैं अभी भी अपने स्पीडो को उससे वापिस लेने की कोशिश कर रहा था।

इस तरह हम दोनों गुथम गुथा हो गए . और इस चक्कर में उसकी बिकनी का ऊपरी भाग मेरे हाथ में आ गया और वो ऊपर ने नग्न हो गयी ।

उसे इस बात की बिल्कुल भी परवाह नहीं थी किवो ऊपर से नग्न हो गयी है और मेरा विशाल लिंग उसकी चूत के छेद पर दस्तक दे रहा था। अगर उसने पतली, लाल बिकनी नीचे नहीं पहनी होती, तो मेरा लंड ज़रूर उसकी योनि के सीधा अंदर चला जाता।

एना अपनी बिकनी वापस पाने के लिए मेरे ऊपर वाले हाथ तक पहुँचने की कोशिश कर रही थी । ऐसा करने में, एना का दाहिना स्तन मेरी छाती के साथ ऊपर और नीचे फिसल रहा था। फिर उसका स्तन मेरे चेहरे के ऊपर तक चला गया क्योंकि उसने अपनी बिकनी टॉप को हथियाने के लिए खुद को मेरे अपर फेंक दिया था उसका स्तन ने मेरे चेहरे की मालिश करने लगा। मुझे बहुत अच्छा लगा और यह अब तक का सबसे अच्छा एहसास था। उसके संवेदनशील निप्पल की नब्ज़ मेरी त्वचा के साथ रगड़ खा रही थी। उसका बड़ा सुडोल दूधिया सफेद, गीला स्तन इतना नरम, जवान और अछूता था।

उसका कुँआरा बदन मुझ पर अपने आप ही बरस रहा था, क्योंकि मैंने फिर से उसकी बिकनी के बहाने उसे अपने ऊपर लाद लिया।

सच में बहुत मजा आ रहा था और इस बीच वो लगातार हस रही थी उसे इस बीच कोई गुस्सा या शर्मिंदगी नहीं थी। हम दोनों एक दूसरे के कपड़े लेने की प्रतिस्पर्धी की चुनौतियों का आनंद ले रहे थे और हस रहे थे ।

उस समय मेरा लंड कितना सख्त था, मुझे लग रहा था यह एक अतिरिक्त इंच बढ़ गया है । हमारा ये खेल काफी देर लगातार जारी रहा और मैं अपने लंड को एना के निचले क्षेत्र में दबाता रहा और उसने भी मुझ पर लगातार अपना कब्जा जमाये रखा और मुझ से चिपकी रही एक बार भी उसने ya मैंने एक दुसरे से दूर होने को कोशिश नहीं की । मैं सचमुच इतना अधिक उत्तेजित हो गया था कि मैं स्खलन करने वाला था ।

इसलिए अपनी अंतिम शक्ति के साथ, मैं एना पर वापस झुक गया, और अपनी बाहों को उसकी कमर के चारों ओर एक बार फिर डाल दिया, इस बार मेरी एक बाजू उसके नितम्बो के ऊपर आराम कर रही थी । और मैंने उसे आलिंगन किया और इस बार यह आलिंगन पहले के आलिंगनों से अलग था। इस बार, एना और मैं हँस नहीं रहे थे। हम दोनों एक-दूसरे की बाहों में थे, मैं पूरा नग्न था और वह लगभग नग्न थी।

हमारी हँसी रुक गयी थी । पूल में सिर्फ पानी के किनारो से टकराने की आवाज थी दूसरी कोई ध्वनि नहीं थी । हमने एक दूसरे को आँखों में देखा। हमने एक दूसरे की भावनाओं का पता लगाने की कोशिश की । मैं उसकी मासूम, हेज़ल की आँखों से बता सकता था कि वह मुझे उस तरह से चाहती थी जिस तरह से वो मुझे देख रही थी ।

मैं उसे चूमने के लिए में आगे झुका और उसको गालो पर एक हल्का और मीठा सा चुम्बन किया और रुक गया मैं इस चुंबन के जवाब का इंतजार क्र रहा था।

अब जब हँसी कम हो गई थी तो मुझे डर था कि अगर उसने अब तक हमारे बीच जो भी हुआ है उसे इसे एक खेल के रूप में माना है, तो वह इसका शायद कोई जवाब नहीं देगी और तटस्थ स्थिति में लौट आएगी, लेकिन उसके स्तनों के कड़ेपन ने मुझे इशारा दे दिया था की उसका जवाब क्या होगा।

वो उसी स्तिथि में बनी रही फिर उसने मुझे प्यार से देखा . वो मुस्कुरायी , मुझ पर वापस झुक कर मुझे मेरे ओंठो पर चूमा , और अपने हाथो को मेरे कंधों के आसपास रख कर मुझे उसने वापस चूमा। अब मुझे पता था कि वह मुझे चाहती है! हम जो कर रहे थे उससे मैं इतना उत्तेजित हो गया था, कि मैं अब रुकना नहीं चाहता था।

कहानी जारी रहेगी


दीपक कुमार
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  RISHTA WAHI SOCH NAYI ( A incest STORY PART - 2) hotbaby 1 21,364 06-18-2021, 07:59 PM
Last Post: hotbaby
  अन्तर्वासना कहानी - मेरा गुप्त जीवन 1 aamirhydkhan 11 15,768 06-18-2021, 04:53 PM
Last Post: deeppreeti
  Sasurji Ka Swadisht Virya Aur Peshab Ka Cocktail hotaks 1 16,762 06-09-2021, 08:01 AM
Last Post: Burchatu
  Kiraye ka Pati sexstories 21 47,926 06-09-2021, 12:26 AM
Last Post: Burchatu
  Meri Adhoori “Tamanna” sexstories 7 28,067 06-08-2021, 08:13 PM
Last Post: Burchatu
  Choti see bhool kee badi saza sexstories 33 161,379 06-08-2021, 07:58 PM
Last Post: Burchatu
  अंकल ने की गांड फाड़ चुदाई sonam2006 6 28,840 06-06-2021, 05:30 PM
Last Post: sonam2006
  पत्नी को चुदवाया rahulch 0 2,489 06-01-2021, 06:17 PM
Last Post: rahulch
  पत्नी को चुदवाया rahulch 0 1,238 06-01-2021, 06:14 PM
Last Post: rahulch
  पत्नी को चुदवाया rahulch 0 1,205 06-01-2021, 06:12 PM
Last Post: rahulch



Users browsing this thread: 1 Guest(s)