पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
08-20-2021, 08:11 AM,
#51
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे


CHAPTER-5


रुपाली-मेरी पड़ोसन


PART-6


विवाह प्रस्ताव

दोपहर का खाना खाने के बाद मैं सोने की तयारी करने लगा तभी मेरे मोबाइल फ़ोन पर किसी अनजान फ़ोन नंबर के कॉल आयी ... एक दो बार घण्टी बजी और फिर फ़ोन कट गया ...l

मैं देख रहा था किसका फ़ोन हो सकता है पर मुझे कुछ भी समझ नहीं आया ... मैंने सोचा फ़ोन मिला कर पूछता हूँ फिर लगा शायद किसी से ग़लत फ़ोन लग गया होगा इसलिए काट दिया ... ... तभी फ़ोन की घंटी बजी और ऐना का फ़ोन आया और उसने कहा क्या आपने राजकुमारी ज्योत्सना से बात की है ... मैंने बोला नहीं अभी नहीं की है ... तो वह बोली मैंने उसे भी आपका नंबर दिया है ... ... तो आप उससे बात कर लेना और उसने दुबारा नंबर भेज दिया ... मैंने अब जैसे ही नंबर सेव किया तो पता लग गया वह मिस काल राजकुमारी ज्योत्सना की ही थी l

मैं उसे फ़ोन मिलाने ही जा रहा था कि पिता जी का फ़ोन आ गया l

मैंने उन्हें प्रणाम कहा l

तो उन्होंने मुझे आयुष्मान और खुश रहने का आशीर्वाद दिया l

फिर बोले कैसे हो और भाई महाराज हरमोहिंदर की शादी के लिए परसो ही वह दिल्ली से गुजरात आ रहे है और मुझे उनके साथ महाराज हरमोहिंदर के घर ही चलना होगा और उन्होंने मुझे ऑफिस से छुट्टी लेने को भी बोल दिया ...l

फिर पिताजी ने पुछा कुमार एक बात बताओ क्या तुमने अपने लिए कोई लड़की पसंद की हुई है या तुमने किसी को शादी के लिए वादा किया हुआ है l

तो मैंने कहा पिता जी नहीं ऐसा अभी कुछ नहीं है l

तो वह बोले ठीक है अपने माता जी से बात करो l

उसके बाद फ़ोन माता जी ने ले लिया तो मैंने उन्हें प्रणाम किया उनशो ने भी आशीर्वाद दिया और बोली महर्षि ने तुम्हारे भाई महाराज हरमोहिंदर के द्वारा सन्देश भिजवाया है ही उनके ससुर हिमालय की रियासत के महाराज वीरसेन के मित्र कामरूप क्षेत्र के (आसाम) के महाराज उमानाथ अपनी राजकुमारी ज्योत्सना का विवाह तुम से करना चाहते है ... तो तुम्हारी क्या राय है?

मेरे तो मन में लडू फुट पड़े और लगा ख़ुशी से नाचने लग जाऊँ पर मैंने भावनाओ पर नियंत्रण किया और मैंने कहाः आप जो करेंगे मुझे मंजूर होगा l

तो पिताजी बोले फिर तुम्हे ये विवाह जल्द ही करना होगा ऐसा महाराज और महृषि की आज्ञा है ... तो मैंने कहा मैं एक बार राजकुमारी ज्योत्सना से भी सहमति लेना चाहूंगा और मुझे महर्षि के आश्रम से उनकी शिष्य ऐना का फ़ोन भी आया था कि राजकुमारी ज्योत्सना भी मुझ से बात करना चाहती है l

तो पिताजी ने बोलै ठीक है तुम राजकुमारी ज्योत्सना से बात कर लो हम परसो शाम को गुजरात आ रहे है फिर आगे बात करेंगे l

फिर पिताजी बोले महर्षि अमर गुरुदेव ने कुछ काम करने को बोले है उन्हें ध्यान से नॉट करलो और वह हररोज बिना भूल के करने हैं l

महर्षि अमर गुरुदेव ने अंजाने में हुए पापों से मुक्ति के लिए रोज़ प्रतिदिन 5 प्रकार के कार्य करने की सलाह दी। ये 5 कार्य मनुष्य को अनजाने में किए गए बुरे कृत्यों के बोझ से राहत दिलाते हैं।

पहला-आकाश-यदि अनजाने में हम कोई पाप कर देते हैं तो हमें उसके प्रायश्चित के लिए रोजाना गऊ को एक रोटी दान करनी चाहिए। जब भी घर में रोटी बने तो पहली रोटी गऊ के लिए निकाल देना चाहिए।

दूसरा पृथ्वी-प्राश्चित करने के लिए चींटी को 10 ग्राम आटा रोज़ वृक्षों की जड़ों के पास डालना चाहिए। इससे उनका पेट तो भरता ही है, साथ ही हमारे पाप भी कटते हैं।

तीसरा वायु-पक्षियों को अन्न रोज़ डालना चाहिए और जल की व्यवस्था भी करनी चाहिए। ऐसा करने से उनके भोजन की तलाश ख़त्म होती है और व्यक्ति को अपनी गलतियों का अहसास होने के साथ ही उसके दोषों से बचने का एक मौका मिलता है। -

चौथा जल आटे की गोली बनाकर रोज़ जलाशय में मछलियों को डालना चाहिए। इसके अलावा मछलियों का दाना भी डाला जा सकता है।

पांचवां अग्नि महर्षि के अनुसार, रोटी बनाकर उसके टुकड़े करके उसमें घी-चीनी मिलाकर अग्नि को भोग लगाएँ। उन्होंने कहा कि यदि कोई रोजाना ये 5 कार्यसम्पन्न करता है तो वह अंजाने में हुए पापों के बोझ से मुक्ति पाता है और अंजाने में हुए पापों से मुक्ति होती है l

इसके इलावा अब तुमने हर रोज़ मंदिर में जाकर दूध फल फूल और मिठाई अर्पण करनी है और आज ही से करना है और अभी चले जाओ और फ़ोन बंद हो गया l

मैं तो ख़ुशी से नाचने लगा और मैंने राजकुमारी ज्योत्सना को फ़ोन मिला दिया ... उसने बहुत मीठी आवाज़ में हेलो कुमार कहा l

तो मैंने कहा राजकुमारी मैं भी आपसे बात करना चाहता था । आपके पिताजी हमारा विवाह करना चाहते है ... आपकी रजामंदी है ... क्या मैं आपको पसंद हूँ l

तो ज्योत्सना बोली जी, आप ...?

मैंने कहा आयी लव यू ... मैंने जब से आपको देखा है तब आपसे बात करना चाहता था ... l

उसके बाद मैंने कहा और आप ... वह बोली मैं भी ...l

और उसके बाद मैंने कहा मैं भाई महाराज हरमोहिंदर के विवाह के लिए महर्षि के आश्रम में जल्द ही आऊँगा आप वहाँ कब आएँगी तो वह बोली हम तो तब से हिमालय राज के यहाँ पर ही हैं उनकी राजकुमारी मेरी मित्र हैं l
फिर हमने मिलने की बात की और उसके बाद मैंने सोनू को बुलाया और मैं मंदिर गया और वहाँ पुजारी से मिला। उन्होंने महर्षि अमर गुरुवर के निर्देशानुसार मुझे पूजा करने में मदद कीl उस समय कुछ भजनों को वहाँ समृद्ध संगीत की धुन के साथ बजाया जा रहा था, जिसने मुझे भक्ति भाव और प्रशंसा से भर दिया, वहाँ थोड़ी भीड़ थी। तभी वह एक युवा लड़की मुझसे टकरा गई जब मैंने उसे देखा। वह लगभग अठारह वर्ष की एक युवा लड़की थी जिसका बदन गदराया हुआ और सेक्सी था, लेकिन वह-वह बहुत शांत और मिलनसार थी, क्योंकि वह मुस्कुरायी और क्षमा मांगने लगी। मैं उसके पास चला गया उसे ध्यान से देखा तो मुझे याद आया वह मेरे पड़ोसी जिनसे मैंने बंगलो खरीदा है उनकी भतीजी ईशा थी।

ईशा के पास ही वहाँ बैठ गया और वहाँ भजनों को सुना। जल्द ही ईशा खड़ी हुई और वह चलने लगी तो मैंने
उसके पीछे चलने का दृढ़ निश्चय कर लिया।

रास्ते में मैंने देखा वह भीड़ से गुजरी तो एक युवा लड़के ने सफेद काग़ज़ के एक छोटे से मुड़े हुए टुकड़े को युवती के सुंदर हाथों में फंसा दिया। वह अपनी मौसी के साथ थी l

कहानी जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply

08-20-2021, 08:15 AM,
#52
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER-5

रुपाली-मेरी पड़ोसन

PART-7

ईशा

ईशा सिर्फ़ अठारह साल की एक सुंदर लड़की थी और यद्यपि इतनी उम्र में, उसकी कोमल छाती पूरी तरह से उन अनुपातों में विकसित हुई थी, जो पुरुषो को प्रसन्न करती है। उसका चेहरा सुंदर और आकर्षक था; अरब के इत्र के रूप में उसकी सांस मीठी और जैसा कि मैंने उसके टकराने पर मह्सूस किया था उसकी त्वचा मखमल की तरह नरम थी।

ईशा को उसके अच्छे रूप के बारे में अच्छी तरह से पता था और वह अपने सिर को गर्व से रानी की तरह उठा कर मटक-मटक कर चलती थी और उसका ये रूप युवाऔ और पुरुषों को लालसाओं को बढ़ाता था और वह अक्सर उस पर प्रशंसात्मक टिप्पनिया करते थे। सुंदर ईशा सभी दिलों की वांछित थी और उसको क़ाफी लड़के हासिल करना चाहते थे और मंदिर में भी उसे काफ़ी लड़के उसकी तरफ़ आकर्षित नज़र आये थे ।

जब ईशा की मौसी मंदिर के जूता घर से जूते वापिस लेने गयी तो ईशा ने एक कोने में खड़ी हो चुपके से उस काग़ज़ के टुकड़े को देखा, जिसे उस युवा लड़के ने उसे चुपके से उसके हाथ में दिया था। उसे पढ़ने के बाद कुछ देर तक कुछ सोचने की मुद्रा में कड़ी रही । तभी उसकी मौसी ने ईशा को बुलाया चलो ईशा चलें और ईशा अपनी चाची की ओर अनमने ढंग से दौड़ी और उसका वह कागज़ का टुकड़ा नीचे गिर गया या उसने जानभूझ कर फेंक दिया । मैं उसके पीछे ही था तो मैंने फट से उस काग़ज़ के टुकड़े को उठाया और खुला होने के कारण, मैंने उसे पढ़ने के लिए आज़ादी ले ली।

"मैं आज शाम चार बजे पुराने स्थान पर रहूंगा," केवल वही शब्द उस काग़ज़ में निहित थे, लेकिन वे ईशा के लिए कुछ विशेष रुचि और मतलब रखते थे जिसे वह गुप्त रखना चाहती थी और मुझे तुरंत समझ आ गया इसीलिए वह कुछ समय के लिए एक ही विचारशील मुद्रा में कड़ी हुई कुछ सोच रही थी।

वो जब मंदिर से बाहर निकली तो कुछ मनचलो ने सीटिया मारी और फब्तियाँ भी कसी पर उसने इसे हर रोज़ होने वाली घटना के तौर पर लिया और उन पर ध्यान न देकर अपनी मॉडसि के साथ-साथ मंदिर से बाहर निकल गयीl

हालाँकि वह मेरे पास कुछ बार छोटी बीमारियों के लिए आयी थी अपर आज मेरी उत्सुकता जाग उठी की वह कहाँ जा रही थी और मेरे मन में उस दिलचस्प युवा लड़की के बारे में और अधिक जानने की इच्छा थी, जिसके साथ मैं मंदिर में सुखदायक संपर्क में आया था, मैंने घड़ी पर नज़र डाली और पाया कि 4 बजने में ज़्यादा समय नहीं था उसके बाद की घटनाओं की प्रगति चुपके से देखने के लिए मैंने उसका अनुसरण करने का फ़ैसला किया।
रास्ते में वह अपनी चाची से कुछ बहाने बनाकर अपनी चाची से अलग हो गई और मैं उसका पीछा करता रहा। ईशा ने अपने आप को बहुत सावधानी से तैयार किया था और वह उस बगीचे की ओर बढ़ गई, जहाँ मैं मनवी भाभी के साथ टहलने जाया करता थाl


मैं उसके पीछे गया।

एक लंबे और छायादार रास्ते के अंत में पहुँचने पर युवा लड़की ईशा झाड़ियों के झुरमुट के बीच एक छुपी हुई बेंच पर बैठ गयी ये एक ऐसी जगह गुप्त थी जिसे मैंने पहले कभी नहीं देखा था और मुझे अंदाजा भी नहीं था के इस झाड़ियों में ऐसी गुप्त जगह हो सकती हैl मैंने मन में सोचा अगली बार मानवी भाभी के साथ यहाँ पर ज़रूर आऊँगाl

ईशा वहाँ उस व्यक्ति के आने का इंतज़ार कर रही थी और मैं उन झाड़ीयो के बीच इस तरह से छिपा गया की मैं किसी को नज़र नहीं आओ और साथ ही साथ ईशा को स्पष्ट रूप से देख सको और उनकी बाते सुन सकू।


सौम्य लड़की ईशा ने अपनी एक टांग को ऊपर उठाया और अपनी दूसरी टांग पर रख दिया, उसने मिनी स्कर्ट पहनी कोई थी और मैंने उसकी गदरायी हुई जंघे जो उसकी तंग फिटिंग मिनी स्कर्ट के ऊपर उठने से उजागर हो गयी थी उन पर ध्यान दिया, मेरे आँखे उसकी स्कर्ट के अंदर तक देख पा रही थी और उसकी जाँघे एक बिंदु पर एक साथ मिल गयी थी, उसे स्थान पर उसकी पतली और झीनी-सी पैंटी से पतली और आड़ू की तरह तिरछी, उसकी योनि का आभास हो रहा था कि उसकी योनि के ओंठ आपस में चिपके हुए थे और उन बंद होंठो के बीच में उसकी टाइट योनी छुपी हुई थी।

कुछ की मिनटों में वह युवक भी वहाँ आ गया और ौसे आते ही ईशा को वहाँ आने का धन्यवाद दिया और दोनों बाते करने लगे की मंदिर में क्या हो रहा था तभी थोड़ी हवा चली और अचानक चारों तरफ़ बादल छा गए और अँधेरा हो गया और हवा गर्म और तेज हो गई और युवा जोड़ा बेंच पर एक दुसरे के करीब से बैठ गया।

"ईशा तुम नहीं जानती कि मैं तुम्हें कितना प्यार करता हूँ," लड़के ने फुसफुसाया और उसने नम्रता से अपनी साथी के होंठ पर एक चुंबन कर दिया।

"हाँ, मैं भी करती हूँ" लड़की ने भोलेपन से कहा, "पर ये तो तुम हमेशा ही बोलते रहते हो? मैं इसे सुनकर थक गयी हूँ।" और वह नीचे की और देखने लगी और विचारशील दिखी।

"आप मुझे उन सभी मज़ेदार चीज़ों के बारे में कब और समझाएंगे जो आपने मुझे बताई हैं?" उसने पूछा, एक तेज नज़र दे रही है और फिर तेजी से उसने नीचे बजरी पर अपनी आँखें झुका ली।

"अब," युवा ने उत्तर दिया। "अभी मेरी प्रिय ईशा, जबकि अब हम अकेले है और रुकावट से मुक्त है तो ये एक अच्छा मौका है। आप जानती हैं, ईशा, अब हम कोई बच्चे नहीं रहे?"

ईशा ने सहमति में सिर हिलाया।


"ये ऐसी चीजें हैं जो बच्चों को नहीं पता हैं और जो प्रेमियों के लिए हैं जिन्हे न केवल जानना आवश्यक है, बल्कि अभ्यास करना भी ज़रूरी है।"

"ओह डियर," लड़की ने गंभीरता से कहा।


"हाँ," उसके साथी ने जारी रखा, "ऐसे रहस्य हैं जो प्रेमियों को खुश करते हैं, जिनसे प्रेमी प्यार करते और प्यार करने का आनंद देते हैं।"

"भगवान!" ईशा ने कहा, "कैसे, अरे आप तो वैसे ही भावुक हो गए हैं, जीतू जैसे आप तब थे जब आपने मुझे पहली बार मेरे लिए अपना प्यार व्यक्त किया था।"

"मैं सच कहता हूँ मैं हमेशा ही तुमसे प्यार करता रहूंगा," युवा ने जवाब दिया।


"बकवास मैंने देखा है आप मंदिर में दूसरी लड़कियों को भी देख रहे थे," ईशा को जारी रखा, "लेकिन जीतू और मुझे बताएँ कि आपने क्या वादा किया था।"

जीतू ने कहा, "मैं आपको कर के दिखा सकता हूँ।" "ज्ञान केवल अनुभव द्वारा सीखा जा सकता है।"


"ओह, तब आओ और मुझे दिखाओ," लड़की बोली, जिसकी उज्ज्वल आँखों और चमकते गाल में मुझे लगा कि मैं जिस तरह का निर्देश दे सकता हूँ और जिस ज्ञान को येपाना चाहती हैं उसके बारे में बहुत सचेत ज्ञान का मैं पता लगा चूका हूँ और उसे भी सीखा सकता हूँ।

मुझे लड़की अधीर लगी और लड़के ने इसका फायदा उठाया और लड़की के मुँह और ओंठो पर अपने ओंठ लगा कर उसने सुन्दर और अधीर ही चुकी ईशा के मुंह से चिपका कर उसे हर्षातिरेक से चूमा।

ईशा ने इसका कोई प्रतिरोध नहीं किया; उसने भी इसमें भाग लिया और अपने प्रेमी के दुलार को उसी हर्ष और उत्सुकता के-के साथ चूमते हुए वापस कर दिया।

फिर जीतू थोड़ा हिला और थोड़ा वह ईशा के पास आया और उसने ईशा को अपने और खींचा और फिर बिना किसी विरोध के उसने सुंदर ईशा की स्कर्ट के नीचे से अपना हाथ घुसा दिया और दुसरे हाथ को ईशा के स्तनों पर ले गया चमचमाते रेशम स्टॉकिंग्स के भीतर जो आकर्षण उन्हें मिला, उससे वे संतुष्ट नहीं हुआ और अपने हाथ और आगे ले गया और उसकी भटकती उंगलियाँ अब ईशा की युवा जांघों के नरम और मांस को छू गईं और दुसरे हाथ उसके टॉप केअंदर घुस गया l

कहानी जारी रहेगी
दीपक कुमार
Reply
08-20-2021, 08:20 AM,
#53
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे


CHAPTER-5


रुपाली-मेरी पड़ोसन


PART-7


ईशा-माफ़ी की प्राथना



मैंने ग़ौर से देखा तो मैंने पहचान लिया जीतू मंदिर के सेवादार का पुत्र था और दसवीं क्लास में तीन साल लगातार फेल होने के बाद उसे स्कूल से निकाल दिया गया था और उसका पिता मेरे पास मंदिर के लिए चंदा लेने आता था और मैं उसके पिता की थोड़ी बहुत मदद कर दिया करता था । जीतू बेरोजगार था और सारा दिन आवारागर्दी करता हुआ इधर उधर घूमता रहता था और उसके पिता ने एक बार उसे कोई नौकरी दिलवाने को भी कहा था l
मैं सोच रहा था कि ईशा जैसी खूबसूरत और बढ़िया लड़की इस फुकरे क़िस्म के लड़के को कैसे मिल गयी फिर सोच रहा था और मुझे लग रहा था जीतू किसी भी हिसाब से ईशा के लिए योग्य नहीं था और अब मुझे इनका मक़सद पता लग हो गया था तो यहाँ रुकने का कोई ज़्यादा औचित्य समझ नहीं आ रहा थाl साथ ही मुझे अपन समय याद आ गया जब मैंने अपनी फूफेरी बहन जेन को भी ऐसे ही पटाया थाl जिसे आप मेरे अंतरंग हमसफ़र कहानी में पढ़ सकते हैंl

उधर बादल गहरे हो रहे थे और रौशनी भी काफ़ी कम हो गयी थी और तेज हवा चलने लगी थी।

मैं असमंजस में था कि मुझे अब क्या करना चाहिए पर मेरा ध्यान बार-बार ईशा की ख़ूबसूरती पर जा रहा था और मुझे वह पका हुआ आम लग रहे थी जिसका रस जीतू चूसने जा रहा थाl (वैसे आम मेरा सबसे पसन्ददीदा फल है) और मैं इस आम को छोड़ना ही नहीं चाहता था l उधर जीतू के हाथ ने ईशा के ड्रेस के टॉप के ऊपर के बटन खोल दिए और उसने उसके स्तनों और चुचकों को ज़ोर से दबाया इससे ईशा हलके से कराह उठी अब मैं इस असमंजस में था कि मैं आगे क्या करून और तभी वहाँ पर एक तेज हवा का झोंका आया और एक पका आम आकर पहले ईशा पर गिरा और फिर मेरे ऊपर आ गिरा l

मैंने आसपास देखा तो मुझे दूर एक पेड़ नज़र आया और हवा के झोंके ने आम के मौसम में एक पका हुआ आम मेरी झोली में डाल दिया थाl मैंने इसे अपने लिए कुदरत का इशारा समझाl आम उसके ऊपर गिरने से ईशा एकदम घबरा गयी और उसकी हलकी-सी चीख निकली और उसने जीतू को दूर झटक दिया और बोली लगता है कोई आ गया है l

इस तरह से ये चीख और रुकावट मेरे लिए भी सन्देश था और मैं अप्रत्याशित रूप से अचानक उस बेच के आसपास की सीमावर्ती झाड़ियों से मैं उठकर उन किशोर प्रेमियों के सामने खड़ा हो गया।

मुझे यु अचानक देख डर के मारे दोनों के खून जम गया। कोमल ईशा के लिए ये बहुत बड़ा झटका था उसने मुझसे नज़र नहीं मिलाई और अपंने चेहरे को अपने हाथों से ढँक दियाl वह उस सीट पर सिकुड़ कर बैठ गयी गई, जो उनके प्रेम सम्बंध की मूक गवाह थी l

वो आम गिरने से अपनी चीख का तेज उच्चारण करने के बाद मुझे देख कर से बहुत डरी हुई थी, अब उसकी आवाज़ ही नहीं निकल रही थी और मेरा सामना करने के लिए बिलकुल भी त्यार नहीं थी और उसे डर लग रहा था कि वह पकड़ी गयी है l

मैंने भी उनके सस्पेंस को बहुत लंबे समय तक निलंबित नहीं रखा। जल्दी से उस दंपति की ओर बढ़ते हुए मैंने हाथ लड़के की बाजू सख्ती से पकड़ लिया और मैंने उन्हें उसकी ड्रेस ठीक करने का निर्देश दिया।

"असभ्य लड़का," मैंने गुस्से के साथ जीतू को कहा तुम दोनों यहाँ क्या कर रहे हो और किस हद तक जा चुके हो? तुम्हारी वासना और जुनून में तुमने इस लड़की के साथ अभद्र व्यवहार किया है? तुमने करने से पहले ये नहीं सोचा जब भी तुम्हारे पिता को तुम्हारे इस आचरण का पता चलेगा तो कैसे तुम अपने पिता के गुस्से का सामना करोगे?
और क्या तुम्हारे पिता की मंदिर की नौकरी तुम्हारे ऐसे आचरण से बची रहेगी ... उनका पुत्र अगर लड़कियों से ऐसा आचरण करेगा तो उन्हें कौन सेवा में रहने देगा? " तुम तो कुछ कमाते नहीं हो और इसके बाद तुम्हारे परिवार का क्या होगा ये कभी सोचा है तुमने l

हम सब की जिम्मेदारी है लड़किया और स्त्रिया सुरक्षित रहे और जब मैं अपने इस कर्तव्य के पालन करते हुए प्रबंधंन को और तुम्हारे पिताजी को उनके इकलौते बेटे की इस करतूत के बारे में बताऊंगा तो तुमने सोचा है तुम कैसे उनका सामना करोगे और वह तुम्हे जेल भी भिजवा सकते हैंl

अपने इस कर्तव्य के पालनकरते हुए मैं तुम्हारे पिता को उसके इकलौते बेटे के हाथों से हुए कुकृत्यों से अवगत कराऊंगा। "ये बोलकर जीतू को कलाई से पकड़कर, मैं प्रकाश में आया और ख़ुद को उनके सामने प्रकट किया, मेरा निश्चित रूप से सुंदर रौबदार चेहरा, आकर्षक शानदार काली आंखों में भयंकर जोशीला आक्रोश देखकर जीतू घबरा गया। मैंने एक सफ़ेद पोशाक पहनी हुई थी, जिसमें से साफ-सुथरापन केवल मेरी उल्लेखनीय मांसपेशियl और लम्बे शरीर को देख जीतू ने आज़ाद होने की असफल कोशिश की । वह अभी भी असमंजस में था क्योंकि मैंने उसकी कामवासना के भोग को भंग कर दिया था।"

और ईशा तुम्हारे लिए, मैं केवल अपने अत्यंत डरावने आक्रोश को व्यक्त कर सकता हूँ। अपने परिवार और अपने स्वयं के सम्मान के लिए लापरवाह, तुमने इस दुष्ट और अनुमानी लड़के को निषिद्ध काम करने की अनुमति दी है? ट्युमने सोचा है अब तुम्हारे परिवार वाले तुम्हारे साथ अब क्या करेंगे? हो सकता तुम्हे घर से निकाल दे... तुम्हारी पढाई छूट जाए तुम्हारे माता पिता पहले ही नहीं हैं तुम अपने चाचा और मौसी पर आश्रित हो सोचो अब तुम्हारे पास क्या है?

अब तुम्हारा भविष्य मुझे अंधकारमय नज़र आ रहा है तुम्हारी पढाई छूट जायेगी और तुम्हारे इस दुष्कर्म का पता चलने के बाद कोई भी अच्छा युवा लड़का तुम्हे अपनी पत्नी के रूप में भी स्वीकार नहीं करेगा और तुम्हे भीख मांगनी पड़ सकती है और ये नालायक तो ख़ुद ही अभी कुछ नहीं करता है तो तुम्हारा ख़र्चा और भार कैसे उठाएगा, अब तुम्हे भीख मांग कर ही गुज़ारा करना पडेगा और हो सकता है तुम किसी ग़लत हाथ में पड़ जाओ ... नहीं-नहीं ये तुम्हारी जैसी सुन्दर अच्छे घर के लड़की के लिए ये सब बिलकुल उपयुक्त नहीं है ... दुर्भाग्यपूर्ण लड़की ये तुमने क्या किया करने से पहले कुछ तो सोचा होता l

ये सुन कर ईशा उठी और गंभीर रवैये के साथ उसने ख़ुद को मेरे पैरों पर फेंक दिया, उसके साथ ही उसका किशोर प्रेमी भी मेरे पैरो में गिर पड़ा और ईशा अपने युवा प्रेमी के लिए माफी के लिए आंसू बहती हुई प्रार्थना करने लगी ... प्लीज हमे माफ़ कर दो हम से बहुत बड़ी गलती हो गयी है l

"और न कहो," मैंने जारी रखा " इस बातो का अब कोई फायदा नहीं है और इसमें आप अपमान करते हैं और मुझे अपने अपराध में मत जोड़ो मेरा मन तुम्हारे इस दुख के चक्कर में मुझे अपने कर्तव्य में गुमराह करता है, मुझे तुरंत सीधे आपके प्राकृतिक अभिभावकों के पास जाना चाहिए और उन्हें मेरे आपके इस दुष्कर्म जो मुझे अचानक पता चला है उससे तुरंत परिचित करवाना चाहिए चाहिए।

"ओह, डॉक्टर साहब प्लीज हम पर दया कीजिये, मुझ पर दया करो," ईशा ने निवेदन किया, जिसके आँसू अब उसके सुंदर गालों पर बह रहे थे वह गिड़गिड़ा रही थी प्लीज " हमें छोड़ दो, डॉकटर अंकल हम दोनों को छोड़ दो।

तभी जीतू बोला हम प्रायश्चित करने के लिए सर आप जो भी कहेंगे वह करेंगे। मैं कुछ भी करने को तैयार हूँ, मैं कुछ भी त्याग कर सकता हूँ, अगर आप इस प्रिय ईशा को छोड़ दोगे। " मैंने उसे रुकने को कहा।

तभी हलकी-हलकी बारिश की बूंदे पड़नी शुरू हो गयी तब स्वाभाविक रूप से कठोर और दृढ़ तरीके और दया के लहजे में मैं बोला। "बहुत हो गया," मैंने कहा, " मुझे तुम्हारे लिए सजा निर्धारण करने के लिए समय चाहिए और इसके लिए मुझे धरम शास्त्रों को पढ़ना होगा ईशा तुम कल मेरे पास दोपहर 2 बजे अपने पुराने घर के पास आ जाओ वहीँ मैं तुम्हारी सजा के बारे में कुछ भी कहूंगा। मैं आपसे उम्मीद करूंगा आप वहाँ समय पर आ जाएंगी।
और जीतू आप के लिए, मैं अपने फैसले को आरक्षित रखूंगा और सभी कार्रवाई, अगले दिन शाम 6 बजे तक निलंबित रहेगी और उस समय मैं उम्मीद करता हूँ आप वह आ जाएंगे और उम्मीद है आप ख़ुद के लिए भी तब तक कोई सजा सोच लेंगे। उस पर विचार करके आगे का फ़ैसला लेंगे । उन्दोनो ने मेरा धन्यवाद दिया और मैंने उन्हें ना आने पर फिर चेतावनी दी।

फिर पहले मैंने ईशा को जाने को बोला और उसके बाद लगभग 15 मिनट के बाद मैंने जीतू को जाने दिया "और उनके कहा कल जब तक हम फिर से नहीं मिलते हैं तब तक के लिए आपका रहस्य मेरे साथ सुरक्षित है, ," और फिर घर लौट आया।

जब मैं वापस घर पहुँचा तो रूपाली मेरा इंतज़ार कर रही थी और मेरे साथ ही उसने मेरे घर में चाय का कप लेकर प्रवेश किया और कहा, "काका क्या आप तैयार नहीं हैं? मैं पहले से ही तैयार हूँ। मुझे बस अपनी साड़ी बदलनी है। आज हम दोनों को फ़िल्म देखने जाना है। आपको याद होगा पिछले हफ्ते हम फ़िल्म देखने नहीं जा पाए थे क्योंकि आप अपने दोस्त से मिलने गए थे।" मुझे याद आया कि मैंने पिछले हफ्ते गोरा रूसी एना को कैसे चोदा था।
"ओह ... हाँ ... हाँ, 10 मिनट के भीतर, मैं तैयार कर आता हूँ तब तक आप भी त्यार हो जाओ," मैंने कहा। मैंने सिनेमाघर जाने के लिए अपने चालक सोनू को गाडी त्यार करने को कहा।

जींस और टी-शर्ट में डालने के बाद, मैं बाहर आया और रूपाली के दरवाजे पर दस्तक दी। रूपाली मेरा इंतज़ार कर रही थी और वह बाहर आ गई। उसे देखने के बाद, भगवान! मेरी आँखें चकाचौंध हो गईं, आज तो मैं उसकी सुंदरता देखकर दंग रह गया।

उसने एक मैचिंग पारदर्शी ब्लाउज के साथ गुलाबी साड़ी पहनी थी जहाँ से उसकी ब्रा की पट्टियाँ और कप साफ़ दिखाई दे रहे थे। साडी का पल्लू उसके कंधे पर अलग रखा हुआ था, उसकी पतली कमर से पूरी तरह से उसकी नाभि उजागर थी पतली कमर के सुडौल शरीर के साथ आकर्षक त्वचा के साथ उसकी चमकदार गोरी त्वचा उसकी साड़ी के रंग के साथ अद्भुत रूप से मेल खा रही थी। उसकी गढ़ी हुई आकृति पतली थी। उसके पास एक गोरा रंग मेल खाते मेकअप और साडी के रंग के कारण गुलाबी रंग का लग रहा था।

उसके चेहरे पर मखमली पलकें, पतली सुन्दर नाक और उसके प्यारे और मीठे होठों पर हल्के गुलाबी रंग के लिपस्टिक लगी हुई थी जहाँ से उसके सफ़ेद दाँत चमक रहे थे। उसके नाखूनों को लाल रंग से रंगा गया था। उसके खुले काले लंबे बाल उसकी कमर पर गिर रहे थे। माथे पर एक गहरी सिंदूर की लकीर के साथ, उसकी बड़ी, मछली जैसी बड़ी-बड़ी आँखें बड़ी सुंदर थीं। कौन-सा आदमी उन गहरी काली आँखों के सागर में खो जाना पसंद नहीं करेगा? उसकी आँखों में एक नज़र डालने से ही व्यक्ति को पता चल जाएगा कि वह ही उसके सपनो की रानी है। वह आँखें मेरे लिए कुछ ज़्यादा ही बोल रही थीं। मेरे लिए उसकी सुंदरता उसकी बड़ी सुंदर आँखों की रहस्यमय अभिव्यक्ति में थी। मैं उसकी आँखों में खो गया l

कहानी जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply
09-27-2021, 03:30 PM,
#54
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 5

रुपाली - मेरी पड़ोसन

PART-8

फिल्म


रुपाली भाभी का ऐसा कल्पना से भी परे अतुलनीय रूप देखकर मुझे पूर्णता की संभावना पर दृढ़ता से विश्वास हुआ और आश्चर्य भी हुआ की कैसे किसी की कम दूरी से देखना कितना अच्छा लग सकता है।

और एक चीज जिसने उसे इतना अकल्पनीय रूप से आकर्षक बना दिया था वह उसकी आँखों थी उसकी बड़ी बड़ी और अभिव्यंजक निगाहों ने मुझे गर्व महसूस कराया कि वह मेरी साथी थी । इस महिला की अध्भुत सुंदरता ने मुझे विश्वास दिलाया कि इस दुनिया में वास्तविक सुंदर महिलाएं मौजूद हैं। मैंने सोच में था कोई व्यक्ति सचमुच इतना सुंदर कैसे दिख सकता है?

मैं खुद से यही सवाल करता हुआ पूछता रहा कि कोई कैसे सभी मुसीबतो के बीच में भी इतनी शानदार रूप से शानदार दिख सकता है। जाहिर है, वह इतनी सुंदर लग रही थी कि इसने मुझे इस सवाल का जवाब देने के लिए मजबूर किया। उसकी ऐसी सुंदरता को सराहना की जरूरत थी। उसकी सुंदरता इतनी अतुलनीय और आश्चर्यजनक थी कि मैं सन्न हुआ उसे देखता ही रह गया ।

अचानक, मैं उसकी आवाज़ से वास्तविकता की दुनिया में आया, "काका, कहाँ खो गए ? आप क्या सोच रहे हैं? हमें देर हो रही है।"

मैंने सोमू को अपनी कार लाने के लिए कहा और उसमे बैठ कर हम थिएटर पहुँच गए । दोनों ऐसे अभिनय कर रहे थे जैसे कि दोपहर में कुछ भी नहीं हुआ हो । हम थोड़ा देरी से पहुंचे थे बॉक्स ऑफिस बिकुल खाली था मुझे थोड़ा आश्चर्य हुआ की बॉक्स ऑफिस कहली कैसे है फिर भी मैं बॉक्स ऑफिस के टिकर काउंटर पर गया और मैंने दो टिकट मांगे।

"सर, आपको कौन सी मूवी का टिकट चाहिए?" बुकिंग क्लर्क से पूछा।

मैंने कैमरून की "अवतार" मूवी के लिए मुझसे अनुरोध किया।

क्लर्क ने विनम्रता से जवाब दिया, "सर, जिस फिल्म का आपने उल्लेख किया है, वह ऑडी 1 में शाम के शो में फुल हाउस चला रही है। अब शाम के शो के लिए," लवर्स " ( बदला हुआ नाम) नामक एक और हॉलीवुड फिल्म ऑडी 2 में दिखाई जाएगी।"

मैं निराश हुआ की रुपाली को बहुत बुरा लगेगा और मैंने तदनुसार रूपाली भाभी को सूचित किया। दोनों ने चर्चा की। वह फिल्म देखने के लिए बहुत उत्सुक थी और बोली अब आये हैं तो कोई और फिल्म देख लेते हैं और बोली काका हम अवतार फिल्म फिर कभी देख लेंगे आप अभी जो फिल्म की टिकट मिल रही है वो ले ले । जैसा कि वह शनिवार को थिएटर में एक फिल्म देखने का आनंद लेने के लिए रुपाली के दिमाग में एक पूर्व धारणा थी, मैंने बालकनी की अंतिम पंक्ति में दो कोने की सीटों के लिए बुकिंग क्लर्क से अनुरोध किया, और " लवर्स " के लिए शाम के शो के लिए टिकट मांगे।

बुकिंग क्लर्क ने हमें बताया कि हम हॉल में किसी भी स्थान पर बैठ सकते हैं क्योंकि हॉल पूरी तरह से खाली है क्योंकि लोगों की भीड़ केवल 3 डी अवतार देखने के लिए है और जनता दूसरी फिल्म देखने के लिए इच्छुक नहीं हैं। तब बुकिंग क्लर्क ने कहा कि स आप थोड़ी देर इंतजार कर ले फिर आपको बताते हैं की हम शो चलाएंगे या नहीं क्योंकि अभी क इस शो के लिए आप ही अकेले दर्शक हैं

मैंने कहा ठीक है . कुछ देर बाद हाल का एक कर्मचारी मुझे बुलाने आया और मुझे हॉल के मैनेजर के कक्ष में ले गया .. वहां मैनेजर ने मुझ से माफ़ी मांगते हुए कहाः महोदय आज चूँकि इस शो के केवल दो ही टिकट बाइक हैं इसलिए हम ये शो रद्द कर रहे है न .. मैनजर बोलै हम आपका पैसा वापिस कर रहे हैं

तो मुझे मालूम था ये जान कर रुपाली बहुत निराश होगी और आज वो इतनी खुश और सुंदर लग रही थी की मैं उसे आज निराश और दुखी नहीं देखना चाहता था तो मैंने उसका मूड देख कर मैनेजर से बोला कुछ कीजिये मैनेजर साहब हम तो अवतार देखने आये थे पर वो हाउस फुल थी तो हमने इस फिल्म के टिकट ले लिए , अब आप उसे भी रद्द कर रहे हैं हमे बहुत निराशा हो रही है .. हम आपके नियमित ग्राहक है अगर आप पहले बता देते तो हम अन्यत्र चले जाते उसका भी समय बीत गया है अब आप कृपया कुछ कीजिये के तो अवतार फिल्म के हाल में ही दो कुर्सियां डलवा दे हमे वो भी स्वीकार है तो मैनेजर बोला नहीं ये संभव नहीं है.

फ़ित्र मैंने पुछा प्रबंधक महोदय आप कम से कम कितने ग्राहक होने पर शो चालते हैं तो प्रबधक बोलै १० टिकट बिकने पर हमे शो चलाना ही पड़ता है ऐसा हमने नियम बना रखा है

फिर मैनेजर बोला आप शो के 10 टिकट खरीद ले और अपने मित्रो या परिवार के लोगो को बुला ले तो में सिर्फ आपके लिए एक विशेष शो चला सकता हूँ और आपको इसके साथ हम पॉप कॉर्न और कोल्ड ड्रिंक हम आपको फ्री में दे देंगे और उसमे मूवी हॉल में केवल आप ही संरक्षक होंगे। मैंने तुरंत एक विशेष शो के लिए सिर हिलाया और भुगतान किया। मुझे इस कामुक फिल्म लवर्स के कथानक का थोड़ा-सा अंदाजा था और मैं कामुक दृश्य देखते हुए रूपाली भाभी की प्रतिक्रिया देखना चाहता था।


फिर जब हमने थिएटर में प्रवेश किया। हालाँकि यह शनिवार का दिन था, लेकिन उस फ़िल्म को देखने वाले हमारे अतिरिक्त कोई नहीं थे क्योंकि यह एक हॉलीवुड फ़िल्म थी तो भीड़ कम ही होती थी , ज़्यादा भीड़ हिंदी और गुजराती फ़िल्मों में ही होती थी लेकिन इस फ़िल्म "अवतार" ने सभी भारतीय और विदेशी फ़िल्मों को पछाड़ दिया है। जब हमने प्रवेश किया तब थिएटर में कोई नहीं था। रुपाली को भी पता था की ये वयस्क फिल्म थी।

जल्द ही थिएटर के हॉल में अंधेरा हो गया मूवी हॉल के अंदर हम दोनों के अतिरिक्त कोई और नहीं थी। हम बालकनी के पिछले भाग के केंद्र में बैठे, मेरा हाथ उसके बगल में आराम से कुर्सी की बाजु पर रखा हुआ हमारी कोहनी भी हल्के से आपस में छू रही थी। रूपाली भाभी ने तब महसूस किया कि कुछ उनके पैर को छू रहा है, और महसूस किया कि मैंने अपने पैर फैला दिये थे और मेरा पैर उनके पैर को लापरवाही से छू रहा था। हमारे शरीर बारीकी से स्टे हुए थे और इससे हम दोनों के पूरे शरीर में विद्युत प्रवाह को महसूस किया। मुझे उसके शरीर की खुशबू से नशा हो रहा था।

मैंने रूपाली भाभी को एक पॉपकॉर्न का पैकेट दिया, और कहा, "भाभी ये कुछ पॉपकॉर्न हैं।"

और साथ में दो कोल्ड ड्रिंक भी थी। फिल्म स्क्रीन पर शत्रु हुई हो और रूपाली भाभी ने अपने रसभरे होंठों को पॉपकॉर्न का स्वाद चखाया।

"उम्म्म ... यह स्वादिष्ट है!" वह कराह उठी।

मैंने मुस्कुराते हुए कहा, "भाभी जब आपका मन करे तो आप कोक पी लेना ; मैंने हमारे लिए कोल्ड ड्रिंक खरीदी है। बहुत सारे पॉपकॉर्न खाने केबाद बहुत जोर से प्यास लगती है ।"


कहानी जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply
10-11-2021, 11:53 AM,
#55
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे



CHAPTER-5



रुपाली-मेरी पड़ोसन



PART-9



कामुक फ़िल्म

पड़ोसन के साथ कामुक फ़िल्म देखना.

थोड़ी देर तक हम चुपचाप फ़िल्म देखते रहे। कुछ मिनटों के बाद मेरी दायी कोहनी उसकी बायीं कोहनी के साथ रगड़ खाने लगी। मैंने अपनी कोहनी ने उसकी कोहनी को हलके से दबा दिया और इससे पहले कि वह अपनी कोहनी को दूर ले जा सके, मैंने दबाव और बढ़ा दिया। फिर उसे लगा कि मेरा पैर जानबूझकर उसके पैर को छू रहा है। रूपाली भाभी को अब थोड़ा अजीब लगा।

रूपाली भाभी ने मेरे साथ सिनेमाघरों में काफ़ी फ़िल्में देखी थीं और इस दौरान हमारे शरीर आपस में कई बार छुए थे, लेकिन उन्होंने पहले कभी कुछ भी असामान्य महसूस नहीं किया था। हालाँकि वह मेरे सामने सामान्य लग रही थी पर दोपहर की घटना और हमारी यौन मुठभेड़ अभी भी उसके दिमाग़ में मँडरा रही थी। मैंने या उसने दोपहर की घटना का कभी अनुमान नहीं लगाया था, वह मानती थी कि यह एक दुर्घटना थी और मामला वहीं समाप्त हो गया। लेकिन उसने मुझे अपनी उंगलियों को उसकी चूत के अंदर डालने अनुमति देकर और मेरे लंड को चूस कर उसने मुझे प्रोत्साहित किया था।

वह सोच रही थी हो सकता है कि यह हमारे दोनों में सेक्स के आवेग के कारण हुआ हो, क्योंकि मैं युवा था, वह भी एक यौन रूप से भूखी महिला थी और इसमें हम दोनों बराबर के दोषी थे।

उसने सोचा कि वह मुझे पूरी तरह से दोष नहीं दे सकती, लेकिन उसने अपने मन में ख़ुद को सांत्वना दी कि भविष्य में वह मुझे अपने साथ किसी भी यौन क्रिया करनी के लिए कोई गुंजाइश नहीं देगी। वह मानती थी मैं सज्जन पुरुष था और वह मेरी प्रसंसक थी और मेरे तरफ़ आकर्षित भी हुई थी लेकिन वह एक गुणी महिला, सम्बंधित गृहिणी और दो बच्चों की माँ भी थी। वह एक आसानी से बहक जाने वाली महिला नहीं थी। उसके मन में ये सारे विचार आ रहे थे।

लेकिन? उसे मेरे स्पर्श से अजीब क्यों लग रहा था? क्या मेरा स्पर्श जानबूझकर था?

अतीत में, फ़िल्मों को देखते समय कई बार मेरा शरीर उसे बहुत करीब से छू गया था, तब उसे कभी भी ऐसा नहीं लगा था?

वह अपने इन विचारो से में बहुत परेशान थी, फिर उसे अपने अंदर से जवाब मिला कि ये सभी नकारात्मक विचार केवल दोपहर में मेरे साथ बने यौन सम्बंध के कारण आ रहे थे और जो अभी भी उसके दिमाग़ में ताज़ा थे।

उसके मन में उलझन थी कि क्या वह एक गुणी गृहिणी थी, या वह गुप्त सेक्स की इच्छा रखने वाली एक पाखंडी स्त्री थी।

स्क्रीन पर चल रही फ़िल्म यह एक टीन एज रोमांस की फ़िल्म थी। प्रमुख अभिनेता और अभिनेत्री किशोर थे। नियमित रोमांस के दृश्यों के बाद, दोनों ने बेडरूम में प्रवेश किया। लड़के ने कसकर महिला को गले लगा लिया और पूरी भावना के साथ, उसके होंठ पर अपने गर्म चुंबन शुरू कर दिए कि उसके बाद में उसने एक के बाद महिला से कपड़ो को हटाना शुरू कर दिया और उसे पूरी तरह से नग्न कर दिया। कैमरा उस समय नाइका के छोटे गोल बूब्स पर केंद्रित था उसके निप्पल चेरी। की तरह लाल रंग की थी फिर कैमरा उसके निचले गोल चूतड़ पर केंद्रित करते हुए, उसके निचले हिस्से पर चला गया, फिर उसकी निचली तरफ़ जांघो के बीच में छोटे और कम जघन बालों से घिरी हुई चूत के बाहरी होंठ दिखाई दिए। इस बीच, लड़की ने भी लड़के के पूरे कपड़े भी उतार दिए थे। लड़के के झूलते औसत आकार के लंड के साइड व्यू पर कैमरा केंद्रित हुआ।

लड़की बिस्तर पर उसकी पीठ पर लेट गई; लड़का उसके ऊपर आया और अपने लंड को उसके मुँह में डाल दिया। कैमरे ने लड़की की पीठ पर ध्यान केंद्रित करते हुए दिखाया कि वह लंड को चूस रही थी, लेकिन लंड को के प्रत्यक्ष दृश्य में दिखाया नहि गया था। फिर लड़के ने लड़की के निपल्स को चूसना शुरू कर दिया ज और कैमरा इस तरह से केंद्रित था जो लड़के के होंठ और लड़की के निपल्स को साफ़ दिखा रहा था। कुछ सेकंड के बाद, लड़के ने लड़की को चोदना शुरू कर दिया।

चुदाई का दृश्य को स्पष्ट रूप से नहीं दिखाया गया था बल्कि स्क्रीन पर कैमरे ने दूर से दोनों के जघन बालों को केंद्रित किया और लड़के को दोनों तरफ़ से जंगली आवाजों और कराहो के साथ ज़ोर से धक्के लगाए जा रहे थे। थिएटर में केवल स्क्रीन पर दिखाए गए प्रेमियों की कराहती आवाजें ही गूंज रही थीं। तभी उसे छिरर्र की आवाज़ सुनाई दी जिस पर उसने ज़्यादा ध्यान नहीं दिया क्योंकि स्क्रीन पर बहुत गरम दृश्य चल रहा था और भाभी उसे बहुत मस्त होकर देख रही थीl

इस दृश्य को देखते हुए मैंने फिर से, उसकी कोहनी को अपनी कोहनी से दबाने और ढीला छोड़ने का क्रम 2-3 बार दोहराया और फिर उसने महसूस किया कि मेरी कोहनी एक प्रकार की लय में चल रही थी। यह कुछ मिनटों के लिए जारी रहा और मैं अपने कोहनी उसकी कोहनी पर रगड़ रहा था, उसने सोचा कि मैं ये क्या कर रहा था और मैंने मुस्कुराते हुए दाईं ओर उसे देखा। तो उसने भी अपनी बायीं और मुझे देखा l

रूपाली भाभी ने आश्चर्य के साथ देखा कि मैंने अपनी जीन की ज़िप को खोल कर, (वह आवाज़ जो उसने सुनी थी-वह तब आयी थी जब मैंने अपनी जीन की ज़िप खोली थी) अपना लंड निकाल लिया था। मैं अपने हाथ से लंड पकड़ कर धीरे से ऊपर और नीचे रगड़ रहा था जिस से मेरे कोहनी उसकी कोहनी से रगड़ खा रही थी (और उसने उसे सिर्फ़ मेरी कोहनी की रगड़ समझा था) ।

वह कुछ भी कहने से कतरा रही थी और पलट कर जल्दी से स्क्रीन पर देखने लगी। रूपाली भाभी बड़ी दुविधा में थीं कि अब क्या किया जाए। अपने शर्मीले स्वभाव के कारण भाभी बहुत घबराई हुई थी। उसने इसे अनदेखा करने का फ़ैसला किया और उसने सोचा कि मैं जो करना चाहू वह कर सकता हूँ पर वह इसका हिस्सा नहीं बनेगी। कुछ मिनटों के बाद, वह फिर से अपने बायीं ओर मुड़ी और देखा कि मैं क्या कर रहा हूँ तो उसने पाया मैंने अपनी पैंट उतार दी थी और मेरे दाए हाथ से मेरा अकड़ा हुआ लंड था। यह बहुत कठोर, सीधा, लम्बा और यह वास्तव में काफ़ी बड़ा दिखता था।

रूपाली भाभी ने देखा और मेरी साँसें बहुत तेज चल रही थी। यह उसके लिए काफ़ी आश्चर्यजनक था क्योंकि उसने पहले कभी किसी पुरुष को हस्त मैथुन करते हुए नहीं देखा था इस तरह का कोई अनुभव नहीं था। वह डर गई और घबरा गई। उसने धीरे से अपनी बांह हटाई और फिर से अपनी दाईं ओर देखा और मुझे अपने उभरे हुए और विशाल लंड के साथ खेलते हुए देखा।

मैंने रूपाली भाभी की तरफ़ देखा और देखा कि उसने भी मेरी तरफ़ देखा है, लेकिन हम चुप रहे।

मेरी इस हरकत से नाराज हो कर उसने जल्दी से गुस्से में दूसरी तरफ़ देखा और साथ ही वह शरमा गई क्योंकि मैंने उसे अपने लंड को देखते हुए पकड़ लिया था। वह अब इतनी उलझन में थी। स्क्रीन पर दृश्य प्रत्येक मिनट में गर्म से गर्मतर हो रहा था। मैंने अपनी बाए हाथ कि उंगलिया रूपाली भाभी के जांघो पर फिसलाने के लिए रुपाली भाभी की तरफ़ बढ़ा दी और इससे पहले हमारी नज़रें एक बार और मिलीं, मेरे दाए घुटने ने उनकी बायीं जाँघ को रगड़ का ब्रश किया। रूपाली भाभी कांप गई और मेरे इस तरह छूने पर वैसे ही शरमा गई जैसे एक नयी दुल्हन अपनी सुहागरात में उसके पति के पहली बार छूने पर शर्माती है।

कहानी जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply
10-29-2021, 05:48 AM,
#56
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 5

रुपाली - मेरी पड़ोसन

PART-10

हस्तमैथुन




मैंने अपनी बाए हाथ कि उंगलिया रूपाली भाभी के जांघो पर फिसलाने के लिए रुपाली भाभी की तरफ बढ़ा दी और इससे पहले हमारी नज़रें एक बार और मिलीं, मेरे दाए घुटने ने उनकी बायीं जाँघ को रगड़ का ब्रश किया। रूपाली भाभी कांप गई, और मेरे इस तरह छूने पर वैसे ही शरमा गई जैसे एक नयी दुल्हन अपनी सुहागरात में उसके पति के पहली बार छूने पर शर्माती है.

उसके बाद कुछ मिनटों के लिए कुछ नहीं हुआ, लेकिन रुपाली भाभी का दिल एक ड्रम की तरह तेजी से धड़क रहा था। रूपाली भाभी को एक झटका तब लगा जब उसे महसूस हुआ कि मैंने अपना कोई अंग उसकी जांघ पर रख दिया था तो उन्होंने अपने जांघ हटाने को कोशिश की तो उनकी जांघ उनकी दूसरी टांग से रगड़ गयी फिर रूपाली भाभी को अगला झटका जब उन्हें मह्सूस हुआ की वो मेरा हाथ था जो उसकी दाहिनी जाँघ पर ऊपर की और आ रहा है ,और जहाँ जाँघे मिलती है और उसकी चूत के प्रवेश द्वार था उसके पास आकर रुक गया।

उसने मेरे हाथ को पीछे धकेल दिया, मेरे हाथ को छूने से एक कंपकंपी उसकी रीढ़ के नीचे तक हुई।

उसके इस इनकार ने मुझे उकसा दिया और मेरी उँगलियाो ने उसकी जांघो को जोर से दबाया और उसकी साड़ी की तह के माध्यम से उसकी टांगो की और बढ़ गयी । मेरा हाथ धीरे-धीरे उसके पैर तक पहुँच गया । अब वह प्रतिक्रिया देने में भी डरने लग गयी और उसकी अब कोई तत्काल प्रतिक्रिया नहीं आयी ; मैंने उसकी साडी को उठाया और अपना हाथ अंदर लेजा कर धीरे से उसकी टांग पर रखा और उसे धीरे से उसे निचोड़ दिया।

उसकी टाँगे सच मे बहुत चिकनी और नरम थी और मेरा हाथ बार बार फिसल रहा था वह नहीं जानती थी कि उसे क्या करना है और यद्यपि उसने अपने पैर आगे बढ़ाए, लेकिन वह मेरा हाथ नहीं हिला पा रही थी।

मैं अपना हाथ वापिस उसकी जांघ पर ले आया और कुछ मिनटों तक मैं धीरे से उसकी जाँघ (अपने बाएँ हाथ से) सहला रहा था। रूपाली भाभी स्क्रीन पर बड़ी मुश्किल से घूर रही थी और अभिनय कर रही थी जैसे कि कुछ भी नहीं हो रहा हो, लेकिन वह गर्म महसूस कर रही थी और अपने होंठ अपने दांतो के नीचे दबा रही थी क्योंकि लड़का स्क्रीन पर लड़की को चोद रहा था और स्क्रीन पर लड़के के हाथ लड़की की जांघो को सहला रहे थे , जबकि उस समय मेरा हाथ भी रुपाली भाभी की चिकनी जांघ पर टिका हुआ था, और अब धीरे-धीरे इसे ऊपर-नीचे घुमाते हुए मैं उसकी जांघ को दबाते और सहलाते हुए निचोड़ रहा था, । वह नहीं जानती थी कि उसे क्या करना है और उसे घबराहट हो रही थी । उसने आँखों के कोने के माध्यम से, उसने फिर से अपनी बाईं ओर देखा, और देखा कि मैं भी स्क्रीन पर देख रहा था, लेकिन मेरा हाथ उसकी जांघ को सहला रहा था। मेरा लंड सख्त और सीधा खड़ा था, और मैं लंड को अपने दाहिने हाथ से सहला रहा था।

मैंने धीरे-धीरे अपने हाथ को उसकी जांघ पर ऊपर की ओर ले जा रहा था, और फिर उसने अपना हाथ मेरे हाथ पर रख दिया और अपने पैर से मेरे पैर को धक्का दे दिया। मेरा हाथ उसे निष्चित ही बहुत गर्म लगा होगा । कुछ मिनटों के लिए मैं रुका तो उसने अपना हाथ मेरे हाथ से हटा लिया और र इस बीच वह स्क्रीन पर कड़ी मेहनत कर रहे युगल की यौन क्रियाये देख रही थी, उसका दिमाग सोच रहा था और मेरी अगली चाल का इंतजार कर रहा था। फिर उसने मेरा हाथ एक बार फिर से उसकी जाँघ पर हिलता हुआ महसूस किया और मैंने उसे एक बार फिर से सहलाना शुरू कर दिया और वो निश्चल बैठ गई।

मैंने अब अपना हाथ पूरी तरह से उसकी जाँघ पर रख दिया, और मैंने उसे और अधिक तात्कालिकता से सहलान शुरूकर दिया उसके बाद मैंने उसकी जंघा को कस कर दबा कर निचोड़ दिया और धीरे से उसके पैरों को फैलाने की कोशिश कर रहा था। उसने इसका विरोध किया, और फिर से उसे धक्का देने के लिए अपना बाया हाथ मेरे हाथ पर रख दिया। लेकिन इस बार मैं इसके लिए तैयार था, और इससे पहले कि वह मेरा हाथ हटा देती , मैंने दाए हाथ से उसका हाथ पकड़ लिया, उसने छूटने की कोशिश की तो मैंने हाथ और दृढ़ता से पकड़ लिया। वह भी इस बात से अचंभित थी, और मैं उसके हाथ को, मानो उसे आश्वस्त करने के लिए धीरे से सहलाने लगा तो उसने अपना हाथ दूर खींचने की कोशिश की, लेकिन मेरी पकड़ काफी मज़बूत थी और फिर मैंने उसका हाथ तेज़ी से अपनी और खींच लिया, और मज़बूती से पकड़ कर अपने सख्त लंड के ऊपर रख दिया।

रूपाली भाभी को इस साहसिक कदम से वास्तव में बहुत चकित हुई और मुझे रोकने में हुई उसे अपनी असफलता पर निराशा भी हुई । उसका हाथ मेरे लंड पर था, मेरे बड़े हाथ में मैंने उसका हाथ पकड़ा हुआ था और मैंने अब अपने हाथ से उसके हाथ को अपने लंड पर ऊपर-नीचे करना शुरू कर दिया। रूपाली भाभी दंग रह गई, उसे मेरा लंड बहुत बड़ा लग रहा था, और उसके हाथ कांप रहा था और मुझे लंड पर उसकी दिल की तेज धड़कन उसके हाथ के माध्यम से महसूस हुई । उसने हाथ छुड़ाने का असफल प्रयास फिर किया पर मेरी पकड़ दृढ़ थी, और वह अपना हाथ नहीं हटा पायी थी। वह आश्चर्यचकित थी कि उसने मेरे खड़े हुए कठोर लंड को पकड़ा हुआ था और मेरे हाथ की गति से अपने हाथ को मेरे लंड पर ऊपर-नीचे कर रही थी ।

मैंने फिर अपनी स्थिति को थोड़ा सा बदल दिया, मोड़ कर और थोड़ा झुक कर उसकी ओर बढ़ा, और अपने बाए हाथ को मैंने उसे धीरे से उसके कंधे पर रखा, फिर पेट पर, और धीरे से सहलाने लगा । जब उसने मेरे हाथ को हटाने के लिए के लिए अपना बायाँ हाथ आगे बढ़ाया, तो मैंने उसके हाथ को मजबूती से पकड़ लिया, लेकिन धीरे-धीरे उसके हाथ को सहलाने लगा। रूपाली भाभी तो उलझन में थी, लेकिन बहुत कोमलता के साथ उसका बायाँ हाथ मेरे सख्त और गर्म लंड को पकड़ रहा था।


उसने अपना बाय हाथ छुड़ाने की कोशिश की तो अपने बाए हाथ से उसके हाथ को छोड़ दिया, धीरे-धीरे उसके ऊपरी पेट को सहलाया, तेजी से अपना हाथ से उसके पल्लू के नीचे सरका दिया और अब मेरा हाथ उसके बाएँ स्तन पर था। मैंने धीरे से उसके स्तन को सहलाना और दबाना शुरू किया। रूपाली भाभी अब विरोध करने से कतरा रही थीं क्योंकि पहले बार जब उसने विरोध किया था तो मैंने उसे अपना लंड पकड़ा दिया था अब इस डर के मारे उसने विरोध ही नहीं किया की पता नहीं उसके विरोध की प्रतिक्रिया में मैं उससे क्या करवाने लगू , और मैंने उनके स्तन को दृढ़ता से दबाना जारी रखा, और फिर मैंने अपना हाथ उसके दूसरे स्तन पर स्थानांतरित कर दिया, और दृढ़ता से इसे दबाने लगा ।

उसकेबाए हाथ पर मेरी पकड़ उतनी ही दृढ़ थी, और मेरा कठोर लंड उसके हाथ में ही था। मैंने फिर अपना हाथ उसके स्तनों पर, उसकी गर्दन पर ऊपर की ओर बढ़ाया, और फिर अपना हाथ उसके ब्लाउज के अंदर सरका दिया, और मेरा हाथ अब उसकी ब्रा के अंदर जाने की कोशिश करने लगा ।

मेरा गर्म और मरदाना हाथ जल्द ही उसके स्तन की कोमल त्वचा पर पहुँचने ही वाला था और उसे समझ नहीं आ रहा था की वो अब क्या करे .. उसकी आँखे अभी भी स्क्रीन पर थी जिसमे नायक नायिका के स्तन अपने हाथो से दबा रहा था .इन घटनाओं के कारण वह बहुत अभिभूत थी। मैंने उसकी ब्रा के अंदर एक दो उंगलियाँ घुसा दी और उसके निप्पल को सहलाया। रूपाली भाभी के शरीर में अनैच्छिक कंपकंपी आयी क्योंकि यह बहुत अधिक हो गया था, वह नहीं जानती थी कि उसे अब आगे क्या करना है, मैंने बस अपने प्रयासों को जारी रखा है। मेरे मूवमेंट बोल्डर निडर और तेज हो गए।

उसने एक बार अपने बाए हाथ को जो मेरे लंड को पकड़े हुए था उसे छुड़ाने की कोशिस की तो मैंने उसके हाथ को जाने दिया और तुरंत अपने आज़ाद हाथ से उसके दूसरे स्तन को बहुत मजबूती से सहलाना शुरू कर दिया। मैंने फिर अपने हाथ को स्थानांतरित कर दिया, और एक हाथ फिर से उसकी जांघ पर लेजा कर उसे कस कर दबाया और जांघो के अंदरूनी भाग पर ले गया और टाँगे खोलने की कोशिश कर थोड़ा जगह बनाने की कोशिश करने लगा । उस बार मैं उसकी जांघो के बीच एक हाथ लाने में कामयाब रहा और दोनों जाँघि के बीच में मेंने अपने हाथ की एक उंगली दबा दी।

मैंने फिर अपना दूसरा हाथ उसकी साड़ी के ऊपर से, उसके पेट पर, और फिर उसके स्तनों पर टिका दिया और उसके ब्रा के कप में से एक स्तन को बाहर निकालने में कामयाब हो गया और उसे अपने हाथ में भर लिया और धीरे से सहलाने लगा फिर मैंने उसके निप्पल को सहला दिया जो पहले से ही उभरा हुआ था, और फिर मैंने धीरे से अपनी उंगलियों से उसके निप्पल पर थपकी दी । उसके बाद मैंने उसके दूसरे स्तन को भी बाहर निकाल लिया और अब उसे सहला रहा था .

मैं अब उसके बूब्स को बहुत ही जोश से सहला रहा था और सहला रहा था। आआ आह ओह्ह वो कराहने लग लगी

उसका दाहिना हाथ, जिसे मैंने छोड़ दिया था मेरे लंड पर था, वो भाबी ने ढीला छोड़ा और फिसल कर अब मेरी जांघो पर टिका हुआ था। मैंने उसका हाथ फिर से पकड़ा, एक बार फिर से अपने लंड पर रखा और उसे वहीं रहने दिया, इस बार जब मैंने उस हाथ को छोड़ा तो रुपाली भाभी ने उसे नहीं हटाया तो मैंने उसके दोनों स्तनों को फिर से मसलना शुरू कर दिया। उसका हाथ मेरे धड़कते हुए लंड पर आराम कर रहा था, और उसके शुरुआती डर और घबराहट के बावजूद, उसने अपना हाथ मेरे लंड पर ही रहने दिया, धीरे से सहलाने लगी और उसे महसूस करने लगी । वो वास्तव अब आनंद ले रही थी और उसने चारों ओर देखा तो पाया कि थिएटर में कोई और नहीं था और किसी को भी पीछे की पंक्ति में हमारे कामुक कार्यों के बारे में पता नहीं था।

मैंने फिर उसके ब्लाउज की डोरियों को खोलना शुरू किया और ब्लाउज को उतार दिया और इसकी पीठ को सहलाया उसके ब्रा के हुक खोले और ब्रा को भी उतार दिया,और उसके बड़े गोल सुडोल और शानदार स्तन अब पूरी तरह से खुल गए और फिर उसे ये महसूस होने से पहले कि मैं क्या कर रहा हूँ , मैं आगे झुक गया , और उसके स्तन को चाटने लगा । और फिर उसके निपल्स और स्तन को चूसना शुरू कर दिया ।

मैंने उसके बाए निप्पल को पूरी तरह से अपने मुँह में ले लिया और उनको चूसने लगा .. वह आनंद से कराह उठी । आआहह ओह्ह प्लीज रुक जाओ, लेकिन उसकी हरकतों ने बता दिया वो गर्म हो गयी है . उसका शरीर अब मेरे द्वारा की गई उत्तेजनाओं का जवाब देने लगा था। जल्द ही उसे एहसास हुआ कि अब मेरी हरकतों का विरोध करना बेकार है, इसलिए उसने आत्मसमर्पण कर दिया . रूपाली भाभी ने भी मेरे लंड को पकड़ कर अपना हाथ ऊपर नीचे करना शुरू कर दिया शुरू कर दिया, और उसे अच्छी तरह से सहलाया, और उसे जोर से सहलाना शुरू कर दिया।

मैं अब उसके स्तनों को हॉल के शांत एयर कंडीशनिंग में उजागर करने में सफल हो गया था , और निप्पलों के बीच चूमते हुए करते हुए उसके दोनों स्तनों को बारी बारी से पर मज़बूती से और लालच भरी कामवासना के साथ चूस रहा था। फिर मैंने अपना हाथ उसके पेट पर ले गया , उसके साडी के अंदर ले जाकर, उसके पेटीकोट के नाड़े तक पहुँच गया और जल्दी से उसे ढीला कर दिया और अपना हाथ उसकी पैंटी के अंदर सीधा उसकी योनि पर सरका दिया। मैंने धीरे से उसे सहलाना शुरू किया, फिर उसे उँगलियों से दबाया, एक उंगली अंदर सरका दी और धीरे से उसे उसकी योनि के साथ हस्तमैथुन करने लगा । रूपाली भाभी ने स्वेच्छा से अपने पैर फैला दिए ताकि मैं उसकी योनि तक और बेहतर पहुँच पाऊँ और वो मेरे लंड को सहलाती रही (जबकि मैं अभी भी उसके स्तनों को चूस रहा था), वह भी मेरे खड़े हुए कठोर लंड को सहला रही थी।

यह कुछ मिनटों तक जारी रहा, मेरी हरकतें तेज़ हो गईं, और उसे पता था कि वह बहुत जल्द अपने कामोन्माद तक पहुँच जाएगी। जल्द ही मुझे उसकी शरीर की अनियंत्रित कंपकंपी महसूस हुई, जैसे कि उसके शरीर के माध्यम से भावनाएं एक मजबूत बिजली के झटके के माध्यम से चली गईं, उसके पूरे शरीर में लाखों झुनझुनी सनसनी फैल गईं, और उसके शरीर के प्रत्येक तंत्रिका को गहन संभोग के रूप में उत्कर्ष पर ले गयी । यह 2-3 मिनट तक चला, उसकी योनि काम रस से भर गयी और वो पूरी तरह से तृप्त हो गयी।

मैं जानता था कि उसे संभोग सुख मिल गया है, और मेरा हाथ उसकी योनी से हटा दिया, मेरा हाथ उसके एक स्तन पर वापस चला गया, और दूसरे स्तन को मैं मेरी जीभ और मुंह से चूस रहा था। मैंने अपना हाथ उसके उस हाथ पर रख दिया जो मेरे लंड को सहला रहा था, और उसे पकड़ लकर तेजी से हिला कर उसे तेज़ी से करने का इशारा किया और उसने मेरे लंड पर अपनी हरकत की रफ़्तार बढ़ा दी। रूपाली भाभी ने मेरे लंड को जोर से पकड़ लिया और तेजी से अपने हाथ को ऊपर-नीचे करने लगीं, जिससे जल्द ही उसने मेरे शरीर को तनावग्रस्त कर दिया, इससे पहले कि एक बार वह अपना हाथ हटा पाती , मेरा लंड उसके हाथ में अनियंत्रित रूप से मुड़ गया, और मेरा वीर्य बाहर आने लगा, क्योंकि वह मेरे लंड को सहलाती रही, और उसका पूरा हाथ मेरे वीर्य से भीग गया और वीर्य उसके पूरे हाथ से टपकने लगा।

रूपाली भाभी को उम्मीद नहीं थी की वीर्य बाहर निकल कर उसके हाथ पर टपक जाए। मैंने संतुष्ट आहें दीं, और रूपाली भाभी ने अपने हाथ को मेरे लंड से हटा दिया, और कहाँ से सारे वीर्य को पोंछ दिया। उसने फिर अपना पल्लू लिया और उसे पोंछा। उसने जल्दी से और चुपचाप अपने कपड़े समेट लिए और ब्लाउज और ब्रा पहन कर बंद कर ली मैंने भी उसकी बगल में बैठे हुए अपनी पेण्ट और अंडरवियर को ऊपर कर लिया ।

ये बिकुल सही समय पर निपट गया था क्योंकि इसके बाद मुश्किल से 5 -10 मिनट बाद रोशनी हो गयी फील में अंतराल हो गया । हमने इस बीच आपस में एक शब्द भी नहीं बोला था। मैं जल्दी से उठ गया, और उसकी तरफ देखे बिना भी टॉयलेट चल गया और मेरे पीछे पीछे वो भी लेडीज टॉयलेट में चली गयी ..

यह खत्म हो गया था, और यद्यपि उसका मन अभी भी भ्रमित था; उसे ये भी राहत मिली कि यह आखिकार खत्म हो गया था। वह वास्तव में पूरी तरह से घबरा गई थी । आखिरकार यह सब एक सार्वजनिक स्थान पर हुआ, और अगर किसी ने हमें देखा / पकड़ा तो क्या होता ये सोच कर उसे डर लग रहा था ।

वापिस आ कर रूपाली भाभी ने अपनी सीट पर खुद को जितना संभव हो सके, उतने इधर-उधर करने की कोशिश की, और देखा कि हॉल बिल्कुल खाली था। उसने पिछले 90 मिनट या उसके बाद की घटनाओं के बारे में सोचा, और जो कुछ हुआ, उस पर वह स्तब्ध थी की उसने मुझे ऐसा करने की अनुमति कैसे दी, उसने कैसे मुझे उसे उत्तेजित करने की , उसकी ब्रा खोलने, उसके स्तनों को छूने और उसके स्तनों को चूसने की अनुमति दी। कैसे यहाँ तक की उसने हस्तमैथुन के लिए मेरा लंड भी पकड़ लिया । रूपाली भाभी ने किस तरह अपनी स्वाभाविक शर्म और डर को दूर किया और जोश के साथ आखिरकार उसने मेरा साथ दिया। निश्चित तौर पे यह जंगली और पागलपन भरा उत्तेजक अनुभव था ,,

कहानी जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply
12-12-2021, 06:59 PM,
#57
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 5

रुपाली - मेरी पड़ोसन

PART-11

अंतराल


किसी तरह से रूपाली भाभी की स्वाभाविक शर्म और डर को दूर हो गया था, और जोश के साथ आखिरकार उसने मेरा साथ दिया। इस पर कोई संदेह नहीं हो सकता कि उसके शरीर ने स्थिति अनुसार प्रतिक्रिया की थी और उसने तेज और और चूर-चूर करने वाला ऑर्गज़्म अनुभव किया था और और इस बीच मैं सीट पर लौट आया, और उसकी बगल में बैठ गया।

तभी हाल के मैनेजर ने कोक और पॉप कॉर्न भिजवा दिया मैंने पॉपकॉर्न का एक पैकेट उसे पेश किया, उसने कुछ लिया और हमने उसे आपस में साझा किया। फिर मैंने कोक का एक घूँट भर पीने के बाद भाभी को दे दिया और उसने भी उसी गिलास से एक घूँट भर कर मुझे वापिस दे दिया

तभी दूसरा वेटर आइसक्रीम का एक कोन दे गया जिसका आर्डर मैं दे कर आया था .. मुझे पता था रुपाली भाभी को फिल्म देखते हुए आइसक्रीम कोन में आइसक्रीम खाना बहुत पसंद था और वेटर जब चला गया और दरवाजा बंद हो गया तो

10 मिनट या उसके बाद, जब वह मेरे हाथो से कुछ पॉपकॉर्न ले रही थी, मैंने उसका हाथ पकड़ लिया, उसे जोर से पकड़ लिया। कुछ मिनटों के बाद, माने उसके हाथ को लिया और मेरे मुँह के पास ले गया और उसके हाथो को प्यार से चूमा।

फिर मैंने उसे आइसक्रीम दिखाई तो उसने हाथ आगे बढ़ाया यो मैंने आइसक्रीम को चाटा और मुँह उसके पास ले गया और उसके ओंठो पर किस कर के जैसेउसे सन्देश दिया आइसक्रीम चाहिए तो मेरे ओंठो से लेनी होगी और फिर आइसक्रीम चाट कर उसे पकड़ा दी और उसने भी चाट कर मुझे वापिस दी तो मै आइसक्रीम का कोन उसकी तरफ ले गया तो वो अपने ओंठो को आइसक्रीम के पास ले आयी और आइसक्रीम चाटने लगी .. फिर मैं भी दूसरी तरफ से आइसक्रीम चाटने लगा .. आइसक्रीम कोन मैंने ही पकड़ा हुआ था .. मैंने चाटते हुए आइसक्रीम कोन नीचे कर दिया और हमारी जीब एक दुसरे की जीभ को चाटने लगी

अब रूपाली भाभी पहले की तरह इसको लेकर इतनी डरी हुई नहीं थीं। उसने कोई विरोध नहीं किया। हम दोनों ने कुछ देर तक एक दुसरे की जीभ चाहते रहे फिर उसने मेरा हाथ पकड़ कर आइसक्रीम ओंठो के पास ले आयी और हम दोनों ने आइसक्रीम खत्म कर दी , इस बीच मैं लगातार उसका हाथ पकड़ कर उसे सहलाता रहा ।

मैं फिर से अपनी सीट पर थोड़ा टेढ़ा होकर बैठ गया और मैंने अपने ज़िप फिर खोल दी जिसे उसने देखा तो वह एक बार फिर अपने दिल की धड़कन को महसूस कर सकती थी। अपने दूसरे हाथ से मैंने अपना लंड एक बार फिर से बाहर निकाल लिया जो अब पूरी तरह से खड़ा नहीं हुआ था ।

अंतराल समाप्त होने के बाद, कुछ देर विज्ञापन चले हालांकि, वह पहले की तरह नर्वस नहीं थी, और पहले से शांत थी। शर्मीलेपन और हिचकिचाहट के कारण अभी भी आपस में कोई शब्द नहीं बोला गया था, लेकिन यह ऐसा था जैसे कोई मूक समझौता हो गया हो। रोशनी मंद हो गई, और फिल्म फिर से शुरू हो गयी।

मैंने फिर उसके दाहिने हाथ को एक बार फिर से अपने लंड पर रख दिया, इस बार रूपाली भाभी ने मर्जी से, और बिना ज़्यादा घबराहट के उसे अपने हाथ में लिया। जैसा कि इंटरवल से पहले हुआ था मुझे अपने लंड पर उसका हाथ ज़माने को मजबूर नहीं करना पड़ा । मेरा लंड जो अभी पूरा कड़क नहीं था, उसने धीरे से पकड़ कर सहलाना शुरू कर दिया। यह उसके छोटे से हाथ के छूने से बहुत अच्छा और अद्भुत लग रहा था, और इसबार उसे लंड के ऊपर नीचे हाथ करने में कोई संकोच नहीं था । रूपाली भाभी ने ऐसा करते हुए मंद रोशनी में नीचे देखा की लंड अब कड़क होता जा रहा था और वो अपना छोटे और गोरे हाथ से मेरे काले लंड को सहला रही थी।

मैं उसकी ओर झुक गया, फिर अपना बाया हाथ सीधे उसके स्तनों पर रख दिया और स्तनों को मसलने और उनकी मालिश करने लगा। मेरे हरकते "निश्चित" थी और उनमे कोई कम जल्दबाजी नहीं थी । उसने भी कोई विरोध नहीं किया और मुझे मेरी मनमर्जी करने दी । इससे मेरा जोश बढ़ता जा रहा था। मैं एक बार फिर से मजबूती से उसके स्तनों को मसल रहा था, और भाभी को यह अच्छा लग रहा था। मैंने फिर अपना हाथ आगे से थोड़ा नीचे किया और उसके ब्लाउज के अंदर खिसका दिया, मेरा हाथब उसके ब्लाउज के अंदर तक पहुँच गया, मैंने उसके स्तनों को ब्रा के ऊपर से ज़ोर से पकड़ कर दबा दिया ,

फिर मैंने उसकी ब्रा को ऊपर की ओर धकेलने की कोशिश की, ताकि स्तन मुक्त हो कर बाहर आ जाये । मुझे इसके लिए थोड़ा संघर्ष करना पड़ा और वह सोच रही थी कि वो इस काम में कैसे मेरी कैसे मदद कर सकती है उसने अपने ब्लाउज की डोरीया हाथ से खोल दी और अपनी बाजुए आगे कर दी मैंने फिर अपना हाथ पूरी तरह से बाहर निकाल लिया, और मैंने उसकी चोली को खींच कर उसके बदन से अलग कर दिया फिर अपने दाएं हाथ से, उसके कंधों को घेर लिया, उसे अपनी ओर खींचा और मैंने उसे कस के गले लगा लिया। यह एक गहरी, गर्म और भावुक आलिंगन था और मैं मेरे दाहिने हाथ से उसे अपनी छाती पर जोर से दबा रहा था।

मैंने उसे अपनी ओर थोड़ा सा हिलाया, ताकि मैं उसे बेहतर तरीके से गले लगा सकूँ। मैं उसे तंग और कस कर आलिंगन किया और हमारे चेहरे लगभग छू गए थे, तो मैंने उसे गाल पर चूमा, और इससे पहले कि वह कुछ प्रतिक्रिया देती , मेरा मुंह उस के मुँह पर था, और मैंने उसे पूरी भावना के साथ उसकेओंठो पर चुंबन किया और उसने महसूस किया कि मेरी जीभ उसके मुंह में अपना रास्ता ढूंढ रही थी ,,,,

इसका नतीजा ये हुआ ही हम दोनों बहुत जबरदस्त उत्तेजक चुम्बन करने लगे मेरी जीभ उसके मुँह में चली गयी और उसकी जीभ को छेड़ने और खेलना लगी कभी मेरी जीभ उसकी जीभ को दबती थी कभी उसकी जीभ धक्का देती और अपनी जीभ से मेरी जीभ को दबाती । मैंने अपनी जीभ उसके मुंह में गहरी घुसेड़ दी और उसे उसके मुंह में भर दिया उसकी जीभ भी जब मेरे ओंठो में प्रतिक्रिया के तौर पर आयी तो फिर मैं उसकी जीभ को चूसने लगा। (यह पागल हो गयी क्योंकि उसके पति ने भी पहले कभी उसे इस तरह से नहीं चूमा था, ये उसी ने मुझे बाद में बताया था )।

रुपाली भाभी भी मुझे उसी तरह से वापिस किस किया, उसने भी मेरे मुंह में उसकी जीभ डालने की कोशिश की, मैंने उसकी जीभ के अपने मुँह में प्रवेश करते ही उसकी जीभ को चूसा। हमने ये गहरा फ्रैंच चुंबन जारी रखा, और हम दोनों इसका कुछ समय के लिए पूरा आनंद लेते रहे. हमारी लार एक दुसरे के मुँह में बह रही थी ..

फिर मैं उसके कान में फुसफुसाया, "रूपाली भाभी, लव यू, आई लव यू डार्लिंग" और उसी तरह से जुनून की गर्मी में, रूपाली भाभी ने भी कहा "आई लव यू; आई लव यू, काका ।"

जब हम आपस में जीभ लड़ाते हुए गीला चुंबन कर रहे थे , तब मैं अपने दाहिने हाथ को उसकी चोली के अंदर लेजाकर एक बार फिर से ब्लाउज के अंदर उसके स्तनों को जोर से दबाने लगा । मैंने उसके एक स्तन को ब्रा के आंशिक रूप से बाहर निकालने में कामयाब हो गया और उसके निप्पल को सहलाने लगा . मुझे उसके नरम स्तन दबा कर बहुत अच्छा लगा रहा था तब मैं अपना हाथ उसकी बाजु उसके पेट को सहलाते हुए फिर अपनी साड़ी की गाँठ को सहलाने लगा ।

फिर मैं अपना हाथ उसकी पीठ पर ले गया, फिर उसकी ब्रा का पट्टा, फिर बहुत चतुराई से, मैंने उसे खोल दिया। फिर, मैं उसकी नंगी पीठ को सहला रहा था। हम अभी भी गहरी चुंबन कर रहे थे , मेरे हाथ उसके स्तन पर वापस चले गए,

मैंने उसके ढीले ब्हो चुके ब्रा को ऊपर की तरफ सरकाया , जिससे उसके दोनों स्तन आज़ाद हो गए और मं उन्हें पूरी गंभीरता से दबाने लगा . उसके मुक्त स्तनों के साथ अब मैं जो भी करना चाहता था वो कर सकता था । वह मेरी ओर झुकी हुई थी, मैं उसके पल्लू को उसके कंधों से खींचने लगा। वह भी थोड़ा शिफ्ट हो गई ताकि मैं उसके ब्लाउज और ब्रा को हटा सकूँ, और वह अपने नग्न स्तनों पर एयर-कंडीशनर की ठंडी हवा महसूस कर सके। उसके बाद उसका पालू और चोली और ब्रा हट गयी और सिनेमाहॉल की मद्धिम रोशनी मेंरुपाली भाभी के स्तन पूरी तरह से उजागर थे , और मेरा बड़ा हाथ उसे मजे से दबा रहा था.

मैं फिर नीचे झुका, और उसके स्तनों को चाटना शुरू किया, फिर अपनी जीभ से निप्पल को झटका दिया, और फिर उसे जैसे बच्चे चूसते हैं वैसे ही चूसने लगा ।

रूपाली भाभी ने अभी भी धीरे से मेरे लंड को पकडा हुआ था जो उसके कोमल स्पर्शों के कारण उसके पिछले वैभव को पुनः प्राप्त कर चुका था और वह अब पूरी तरह से खड़ा और कड़ा हो गया था । लंड उसके हाथ में धड़क रहा था और उसे मेरा लंड बहुत सख्त और शक्तिशाली लगा। मैं फिर अपनी सीट पर थोड़ा सा शिफ्ट हुआ और मैंने अपनी पतलून खोल कर उसे अंडरवियर के सहित मेरे चूतड़ों के नीचे तक धक्का दिया, और अपने पैर फैला दिए। रूपाली भाभी मेरी नागि जाँघे देख सकती थी, मैंने अब उसका हाथ थाम लिया, उसे अपने नंगे धड़ जांघो पर, और मेरी गेंद पर निर्देशित किया ..

अपनी जिज्ञासा से, उसने मेरी गेंदों पर अपना हाथ घुमाया, और उन्हें अपने हाथ में ले लिया। मेरी एक आह निकली और मेरे पैरों और चौड़े हो गए .. रूपाली भाभी अब शायद ही फ़िल्मी परदे पर देख रही थी.. मंद रोशनी में, वो मुझे अपने स्तनों को चूसते हुए देख रही थी, और वास्तव में मेरे मुँह को एक स्तन से दूसरे स्तन तक निर्देशित कर रही थी, फिर वह भी नीचे मेरे बड़े लंड की देखनते हुए अपना हाथ लंड पर ऊपर नीचे करने लगी । अब हम दोनों अपनी अलग दुनिया में थे। मैंने फिर से उसे गले लगाया, उसकी गर्दन और उसके कंधों के आसपास मेरी बांह को डाल दिया,, और मेरी तरफ उसके चेहरे को खींच लिया, और उसको पूरी शिद्दत से फिर से चूमने लगा वह भी मेरी गर्दन के चारों ओर उसकी बाहों डालमेरे जीभ से खेलने लगी ,और मेरा चुंबन का समान जुनून के साथ जवाब देने लगी ।

हमारे गहरी फ्रेंच चुंबन और आपस में उलझी हुई जीभ के बीच मैंने उसके पेट पर अपना हाथ लगा कर मैं उसकी कमर पर साड़ी की गाँठ को ढीला करने की कोशिश करने लगा ।

" हे भगवान! रूपाली भाभी, आप सभी महिलाएं वास्तव में जानती हैं कि कैसे एक आदमी को तंग और परेशान करना है ... इस साड़ी गाँठ को खोलने में कितना समय लगेगा? । " मैंने आगे बढ़ने के निश्चय के साथ बोला

रूपाली भाभी मुस्कुराई और मुझे उकसाया, "प्रयास से ही अच्छे नतीजे मिलते है ।"

फिर मैंने उसकी कमर पर साड़ी की गाँठ खोली, उसके पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और उसकी पैंटी के अंदर हाथ फेरते हुए उसकी योनि को एक बार फिर से सहलाया। मेरी हरकतों में कोई जल्दबाज़ी नहीं थी, और मैंने उसकी चूत के होंठों को अलग किया, धीरे से उसके नम छूट में अपनी मध्यमा उंगली डाली। एक छोटी सी आह उसके होंठों से निकली उसे , यह अच्छा लग रहा था, और मैं अब धीरे-धीरे उंगली अंदर-बाहर करने लगा ।

वह नहीं चाहती थी कि मैं रुक जाऊं, लेकिन मैंने अचानक अपना हाथ हटा लियाl


कहानी जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply
12-12-2021, 07:02 PM,
#58
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 5

रुपाली - मेरी पड़ोसन

PART-12

अंतराल के बाद



मैंने उसके सिर पर मेरे हाथ रखते हुए धीरे-धीरे उसका सर नीचे की ओर धकेलना शुरू कर दिया। एवो समझ गयी की मैं चाहता था कि वह मेरा लंड चूसे। उसने दोपहर में भी मेरा लंड पहले ही चूसा था, और मेरे वीर्य का स्वाद उसने चख लिया था, इसलिए वह कूद को इस मीठी लॉलीपॉप को चूसने से रोक नहीं पायी और जल्द ही उउसका चेहरा मेरे लंड से कुछ सेंटीमीटर दूर रह गया । उसे पास से यह अब बहुत बड़ा लग रहा था, मैंने उसे नीचे की ओर धक्का दिया, और उसके चेहरे ने मेरे मुर्गा के साथ संपर्क किया। वह अब भी अपने बाएं हाथ में मेरा लंड पकड़े हुए थी, फिर मैंने अपना लंड पकड़ कर, अपने लंड को उसकी चूचियों, नाक आदि पर रगड़ दिया (हालाँकि उसने अपना मुँह उत्सुकता से खोल रखा था)। मेरा लंड गर्म था और धड़क रहा था, फिर एक बार लंड उसके चेहरे पर टकराया फिर मैंने अपने लंड को उसके मुँह पर, उसके होंठों के खिलाफ, रगड़ा और इससे उसने उसका मुँह व्यापक रूप से खोल दिया, और फिर मैंने उसके सिर को नीचे कर दिया। अब मेरा लंडमुंड उसके मुँह के अंदर था । मैंने उसके सर को अपने लंड पर और नीचे सरकाया, और उसने मेरा लंड पूरी तरह से अपने मुँह में ले लिया। यह बड़ा था, लेकिन किसी तरह, वह पूरा लंड अपने मुंह में लेने में कामयाब रही।

इंटरवल से पहले निकले वीर्य की लंड पर लगी हुई चिकनाई से उसको मेरे लंड का स्वाद हल्का नमकीन लगा । मैंने अपना लंड उसके मुँह में दबाते हुए उसके मुँह में जितना हो सकता था उतना गहरा धक्का देना जारी रखा और फिर उसके मुँह को ऊपर और नीचे की लय में हिलाने लगा।

रूपाली भाभी ने भी अब अपना मुँह मेरे लंड पर ऊपर-नीचे करना शुरू कर दिया। यह फिर अपनी जीभ को मेरे लंड के ऊपर, ऊपर-नीचे करने लगी। सुबह के समय मुझे ऐसा करने के लिए बोलना पड़ा था परन्तु अब वो ऐसा स्वयं ही करने लगी और उसने जीभ फिराते हुए मेरे लंड को चूसना जारी रखा, फिर धीरे से उसे अपने मुँह से बाहर निकाला और फिर मेरे लंड के किनारे को चाटा। यह कोई बड़ी बात नहीं थी, और वास्तव में बहुत कामुक था । मैं इस बीच अपने दूसरे हाथ से उसकी जांघों को सहला रहा था; वास्तव में, मैंने उसके पेटीकोट को और उसकी पैंटी को उसके पैरों से नीचे कर दिया और वास्तव में उसे अपने घुटनों से धकेलने में कामयाब रहा। उसकी पैंटी और पेटीकोट धीरे-धीरे उसके पैरों पर गिरा। वो मेरा लंड चूसती रही। अब, बिना मेरे धक्के के, वह स्वेच्छा से मेरे लंड को चूस रही थी, जल्द लंड उसकी लार से ढक गया मैंने फिर उसे अपने शरीर पर थोड़ा और आगे किया ताकि उसके स्तन भी मेरे लंड पर रगड़ें।

कुछ देर बाद मैंने उसे वापस उसकी सीट पर धकेल दिया, मैंने फिर उसे उठा कर फर्श पर लेटा दिया, उसकी साड़ी को ए उसकी कमर से ऊपर उठाने के बाद उसके पैरों को फैला दिया और उसकी जाँघों तक चाटने लगा। । अब मैं उसकी योनी को चाटने जा रहा था ये सोच कर वो दंग रह गयी , मैं चुंबन करता हुआ था उसकी जाँघें चाटता हुआ मैं जल्द ही उसकी योनी को ओंठो को चूमने लगा फिर मेरी जीभ उसके योनी होंठो पर फिराते हुए मैं अपनी जीभ अंदर ले गया .. वो उछाल गयी । उसे ये वास्तव में बहुत अच्छा लगा और उसने अपने पैर और अधिक फैला दिए ताकि मैं बेहतर तरीके से चाट सकूं। मैंने चाटना जारी रखा, उसकी योनी के छेद को अच्छे से चाटता रहा, कुछ मिनटों के बाद, उसने महसूस किया की वो अब उत्कर्ष पर पहुँच रही है उसकी टाँगे अकड़ी .. शरीर थरथराया और मेरा मुँह योनिरस से भर गया । जिसे मैं चाट गया..

उसे ये बहुत अच्छा लगा और वह इसके बाद उसने मुझे अपने ऊपर खींचलीया और मुझे किश करके आयी लव यू बोला ।

फिर मैं उठा, अपनी सीट पर फिर से बैठा, उसके हाथ पकड़े, उन्हें जोर से दबाया तो उसने भी मेरा हाथ कस कर पकड़ लिया फिर मैं आगे की और झुका और उसका फिर से चुम्बन ले लिया, और ये चुंबन लम्बा चला और फिर कहा, "मैं तुम्हें प्यार करता हूँ।" कुछ मिनट तक हम ऐसे ही बैठे रहे, फिर मैंने उसका हाथ फिर से अपने लंड पर रखा, जो फूला हुआ था वो फिर से सहलाने लगी, उसके कहलाने से जल्द ही लंड कड़ा हो गया । रूपाली भाभी ने लंड के अपने हाथ में बढ़ने और कड़ा ओने का आनंद लिया इससे संतुष्टि और शक्ति मिली। वह मुझमें फिर से जुनून पैदा कर सकती है।

रूपाली भाभी ने मेरे लंड को ऊपर-नीचे करना शुरू कर दिया, यह जल्द ही कठोर और फिर से खड़ा हो गया। उसने लंडमुंड को चूमा अपने ओंठ खोले और धीरे धीरे जीभ फेरते हुए एक एक इंच अंदर करते हुए ऊर्जा लंड अपने मुँह में ले गयी .. फिर मुँह में से लंड निकाला मेरे मुँह पर चूमा और और मैं फुसफुसाया , "मैं प्यार करता हूँ , मैं तुम्हें प्यार करता हूँ।" रूपाली भाभी ने, "आई लव यू," कहते हुए अपनी जीभ मेरे मुंह में धकेल दी। मैंने उसे किस किया और फिर उसे आगे की ओर झुकाते हुए इशारा किया कि मैं चाहता था कि वह मेरा लंड फिर से चूसे।

रुपाली भाभी मेरा लिंग की नोक को चूमने के साथ एक बार मेरे पहले निकले वीर्य जो मेरे लंड से लग गया था उसके नमकीन स्वाद महसूस को किया उसने उसके चेहरे पर मेरे लंड को मला, उसके नाक, होंठ, गाल, कान परसब जगह उसने लंड को मला । उसने फिर अपनी जीभ बाहर निकाली, मेरे लंड की लंबाई को ऊपर से नीचे तक चाटना शुरू कर दिया। उसने अनुमान लगाया कि यह कम से कम 8 -9 इंच लंबा होगा, यह चट्टान की तरह कठोर था।

मेरा लंड अब उसकी लार से झनझना रहा था, फिर उसने अपना मुँह चौड़ा किया, धीरे-धीरे मेरे धड़कते हुए लंड को थोड़ा सा अन्दर ले लिया, जल्दी ही उसके मुँह में पूरा अंदर चला , वो उसे ऊपर-नीचे करके चूसने लगी।


मैं उसके स्तनों को सहलाने लगा रूपाली भाभी ने मेरे लंड को चूसने, चाटने में अपना समय लिया, धीरे-धीरे गति का निर्माण किया, वह जानती थी कि मैं उससे प्यार करता था, और वह भी इसका आनंद ले रही थी। वो भी मेरे लंड को चूसते हुए अपने हाथ से मेरे लंड और अंडकोषों को सहला रही थी, फिर अचानक बिना किसी चेतावनी के, मेरा शरीर अकड़ गया और इससे पहले कि वो कुछ प्रतिक्रिया दे पाती, मैंने अपने वीर्य को गर्म धार उसके मुँह में छोड़ दी जिससे उसका मुँह उसके नमकीन स्वाद से भर गया।

रूपाली भाभी ने पीछे खींचने की कोशिश की, लेकिन उसने मेरा हाथ अपने सिर पर महसूस किया । मेरे गर्म वीर्य ने उसके मुंह को भर दिया, वह आधे से अधिक निगलने के लिए मजबूर हो गई, जबकि कुछ मुंह और नाक से बाह्रर निकल आया फिर वो ऊँगली से सारा वीर्य चाट गयी । मैं बहुत ही संतुष्ट दिख रहा था ।

फिल्म अभी भी चल रही थी। दोनों ने हमारी पोषक को पोशाक को व्यवस्थित किया।

लेकिन मुझे ऐसा लगा कि मैं अभी भी अतृप्त था। चुदाई का एक लंबा दृश्य था जो स्क्रीन पर चल रहा था। हम दोनों इसे एक-दूसरे से लिपटे हुए देख रहे थे। स्क्रीन में चुदाई का लम्बा दृश्य देखने के बाद, मेरा विशालकाय लंड फिर से उछल गया।

कहानी जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply
01-08-2022, 08:55 PM,
#59
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 5

रुपाली - मेरी पड़ोसन

PART-13

थिएटर में चुदाई 





जब मेरा लंड एक बार फिर से कठोर हो गया तो मैंने कुछ विचार किया और मैंने उसके हाथ को पकड़ फिर से अपने लंड पर रख दिया । रुपाली भाभी सिर्फ इतना ही बोली ओह्ह ... भगवान ... यह तो फिर तैयार हो गया है और बोली काका आपमें तो किसी भी जवान आदमी की तुलना में 100% अधिक ऊर्जा है । आपका ये तो इतनी जल्दी फिर खड़ा हो गया मेरा लंड उसके छूने से धीरे धीरे फिर से खड़ा हो गया और एक बड़ी सख्त रोड में बदल गया।

मैंने रूपाली भाभी से कहा, “रूपाली भाभी, मुझे नहीं पता कि भविष्य में इस प्रकार के मौके हमे फिर मिलेंगे या नहीं, इसलिए हमें भगवान द्वारा दिए गए प्रत्येक पल का पूरा आनंद लेने में चूकना नहीं चाहिए ।“ रूपाली भाभी ने मेरी बातों से सहमति जताते हुए सिर हिलाया।

मैं उसके कानों में फुसफुसाया, “रूपाली भाभी, अब मैं आपको यहाँ चोदना चाहता हूँ।“ ये प्रस्ताव सुनते ही रूपाली भाभी ने अपना हाथ हटा लिया और पीछे हो गयी । वह अपनी अविश्वसनीय आश्चर्यचकित आँखों से मुहे देख रही थी और उसकी आँखे मानो ये कह रही थी कि यह सबके सामने सार्वजनिक स्थान पर कैसे संभव होगा।

उधर स्क्रीन पर भी नायक और नायिका का अगला सत्र शुरू होने वाला था। स्क्रीन पर नायक ने नायिका को चूमना शुरू कर दिया था .. मैंने भी भाभी के जवाब का इंतजार करे बिना धीरे-धीरे उसके हाथ को सहलान शुरू कर दिया फिर वो घूम कर मेरी तरफ चेहरा कर बैठ गयी तो मेरी मूंछें उसके ऊपरी होंठ पर चुभने लगी और मेरे बाएं हाथ उसके ब्लाउज मेरे हाथ उसके ब्लॉउज के नरम कपड़े के ऊपर से उसके स्तन दबाने लगे

“क्या, अगर किसी ने हमें इस तरह ये यहां देख लिया है तो क्या होगा?” उसने फुसफुसाते हुए, मेरे कॉलर को पकड़ा।

एक भी शब्द बोले बिना, मैंने उसके ब्लाउज और ब्रा को उतार दिया, और उसके स्तनों के निचले हिस्से को दबाया, मेरी जीभ उसके उभरे हुए निपल्स के ऊपर फिरने लगी और मेरे ओंठ उसके निप्पल धीरे-धीरे चूसने लगे , मेरी हथेली स्तनों को दबा रही थी। उसने अपने पल्लू को अपने नग्न स्तनों के ऊपर खींच लिया ताकि उसके स्तन दूसरों को दिखाई न दें।

मैं भाभी से बोला यहाँ इस हाल में हम दोनों के सिवा कोई नहीं है मैंने चेक कर लिया है .. आप निश्चित रहो हमे कोई नहीं देखेगा मैंने उसे अर्द्सत्य बोलै और ये नहीं बताया की ये हमारे लिए प्राइवेट शो है इसमें कोई अन्य दर्शक होने की अनुमति नहीं है और कोई स्टाफ भी अंदर नहीं था

मैंने उसे स्वतंत्रता के साथ उसके स्तन की दबाना शुरू करते हुए किश करने लगा , मैंने उसकी साड़ी के पल्लू को हटा कर नीचे की ओर फेंक दिया और उसे कड़ी करके उसकी साडी को खींच कर खोल दिया . वो एक दो बार घूमी और साडी उसके बदन से अलग हो गयी फिर उसके पेटीकोट की डोरी खींच कर उसे ढीला कर जमीन पर गिरने दिया और उसकी पैंटी को उसके घुटने से नीचे खींच दिया, अब वो मेरे सामने बिलकुल वैसी थी जब वो पैदा हुई थी .. बिलकुल नग्न वाह क्या नज़ारा था

मेरे हाथों उसके चिकने और नरम बदन पर चल कर जा उसके शरीर की जांच करने लगे और मेरी जीभ उसके मुँह जीभ और स्तनों की जांच कर रही थी और वो धीरे धीरे मजे लेती हुई कराह रही थी ।

रूपाली भाभी की गीली हो चुकी चुत अब टपक रही थी, उसके अंदर से नमी बाहर निकलने लगी थी, जिस तरह से गर्म मखन में पॉपकॉर्न नीचे जाता है उसी तरह मेरी उँगलियाँ नीचे योनि में धंस रही थी । मैंने अपना बायाँ अंगूठा उसकी कोमलता से धड़कती हुए चूत के अंदर धकेल दिया, । रूपाली भाभी ने अपना सर पीछे की ओर किया, अपनी आँखें खोली, और बंद कीं.

उसकी पैंटी उसके टखनों पर टिक गई थी। मैंने पहले ही अपनी पैंट को उतार दिया था, और वह ऊपर के और खड़े हुए बम्बू की ओर देख रही थी, और जोर जोर से सांस ले रही थी उसका दिल भी तेज धड़क रहा था । मैं फुसफुसाया, “रूपाली भाभी, मेरी गोद में बैठो।“

उसकी चूत इतनी गीली, नम और फिसलन भरी थी कि जिस पल वो मेरी गोद में बैठी, मैंने अपनी कमर घुमाई तो मेरा लंड आसानी से फिसल गया, और उसकी चूत के छेद में पक्क की आवाज के साथ घुस गया। फिर मैंने मेरे कूल्हों को ऊपर-नीचे किया गया, और गति बढ़ाते हुए ... फिर से धीमा करने से पहले; मेरे हथेलियों ने उसके स्तन सहला दिए । “ओह रुपाली भाभी .. ...” और वो भी ऊपर नीचे होते हुए चुदाई की ताल मिलाने लगी .. हमारे होंठ जुड़े हुए थे मेरा एक हाथ उसके स्तन दबा रहा था और दूसरा हाथ उसके पीठ को सहला रहा था और चुत के अंदर लंड हलचल मचा रहा था .. उधर रुपाली के दोनों हाथ मेरी गर्दन के हार बने हुए मेरे कंधो पर थे ,, ऐसे ही कुछ देर चला

फिर मैंने अपनी सैंडल की लात मारते हुए निकाल दिया, और मैंने उसे खड़ा कर दिया और मेरा दाहिना पैर उसकी तरफ बढ़ा, उसके पैरों को अलग कर दिया। रूपाली भाभी ने उत्तेजना के कारण अपने होंठों को काटते हुए मेरे पैर की उंगलियों को दबाया। और मैंने ऐसे ही कुछ धक्के और लगाए

"आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह" उसने जोर से कराहते हुए कहा, मेरी ठुड्डी को ऊपर खींच, हमारी जीभ में आग लग गई।

मेरी उंगलियों ने उसके कूल्हे मसल दिए।

"धीरे प्लीज धीरे करो ... 'रूपाली भाभी ने अपना मुँह मेरे मुँह अपना मुँह रखते हुए पहले फुसफुसायी , और उसी समय मैंने अपने लंड को उसकी योनि से बाहर निकाल दिया ।

"ओह्ह्ह्ह अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह ... नूओऊओओ," कोई नीचे वाले हाल की पहली वाली पंक्ति से कराहते हुए बोला, क्योंकिस्क्रीन पर लड़का लड़की को कुत्ते की शैली में चोद रहा था।

हो सकता है कि यह कुछ कर्मचारी हो "हम यहाँ बिना किसी डर के कर सकते हैं, हॉल पूरा खाली है, और बॉलकने में तो कोई भी और नहीं है ," मैंने कहा।

रूपाली भाभी के शरीरअब और माँगने लगा और वो मेरे साथ चिपक गयी और बोली तुम रुक क्यों गए काका । उसने मेरे लंड को छूने से बाद अपने टाँगे फैला दी और मुझे आमंत्रण दिया मैंने धीरे से उसकी जाँघों पर किस किया। और अपने गॉड में वापिस खींच लिया

हाल में रोशनी कम थी उधर मेरा लंड उसकी चूत के छेद के अंदर गहराई तक समा गया था। वो लगातार मेरी गोद में उछल रही थी और बड़े लंड को अपनी चूत के अंदर दबा रही थी। जब वह अपने बट को ऊपर उठा रही थी, विशाल डिक उसकी चूत में प्रवेश करने के लिए नीचे चला गया, तो भीतरी छेद के ठीक नीचे, चूत की दीवार के क्षेत्र के पास एक वैक्यूम बना रहा था, फिर जब वह फिर से अपने नितंब को नीचे धकेल रही थी, तो मैंने अपने लंड को ऊपर की ओर पूरी ताकत से धक्का दे रहा था जिसके परिणामस्वरूप हवा चूत के रस के साथ मिश्रित होकर फच फच की मधुर ध्वनि पैदा कर रही थी ।

मैं उसके दोनों स्तनों को सहला रहा था, और साथ ही साथ उसके कठोर निप्पलों को मसल रहा था। कभी-कभी, मैं अपने दांतों से निपल्स को कुतर देता तो उसकी कराह निकल जाती थी । जब मैं उसके ओंठो को किस की तो मैं उसके होठों की कोमल पंखुड़ियों को कभी-कभी काट रहा था, और फिर मैंने उसके मुँह के छिद्र के अंदर अपनी जीभ को गहराई से दबाया। मैंने दांतों के नीचे उसके पूरे मुँह को गहराई तक चूसा और उसकी जीभ को भी चूसा। उसने भी मेरी जीभ को चूस कर पूरा साथ दिया । हमारी दोनों गर्म जीभों ने एक बड़ी मात्रा में लार का उत्सर्जन किया, जिसे हमने अपने मुंह में ले लिया। मिश्रित लार दोनों के लिए स्वादिष्ट था, और हमारे दोनों के मुंह इस लार से भरे हुए थे, जो धीरे-धीरे हमारे मुंह के कोने से बाहर टपक रहा था, और हमने समय को बर्बाद किए बिना, दोनों ने तुरंत लार को निगल दिया।

रूपाली भाभी अपनी कमर और नितंब ऊपर-नीचे करते हुए, तेज आवाज के साथ चोद रही थी, मैं उसकी चूत के अंदर के बड़े लंड को एक लय के साथ ध्वनि के साथ लय मिला कर चोद रहा था मनो दोनों मधुर संगीत पर पानी ताल मिला रहे थे ।

उसने मेरे बड़े लंड को ढकने के लिए अपने पल्लू का इस्तेमाल किया तो मैंने उसे उतार फेंका । फिर वह कराहने लगी, "काकाआआआ ... मैं आ रही हूँ।"

वो अपने कामोन्माद के चरमोत्कर्ष पर पहुंची और कांपने लगी । उसका शरीर अकड़ा और वो मेऋ गार्डन से और मेरे बदन से लिपट गयी और उसका ऊपर नीचे होना रुक गया मैंने महसूस किया कि मेरे बड़े डिक को उसकी योनि की मखमली मांसपेशियों द्वारा अंदर खींचा गया और फिर मांसपेशियों की लंड पर पकड़ ढीली हो गई और गर्म लावे के प्रवाह से मेरा लंड पूरा भीग गया। यह एक मिनट से अधिक समय तक चलता रहा। मुझे पता था कि रूपाली भाभी को एक भारी ओर्गास्म हुआ था और वो भी कई साल बाद उसकी योनि के अंदर लंड ने प्रवेश किया था , और मुझे लगा कि मेरा लंड योनि के अंदर योनि रास से भीगने के बाद और चिकना हो गया है उसकी योनि झड़ते हुए संकुचन कर रही थी जिससे मुझे लग रहा था की योनि लंड को चूस कर निचोड़ देगी

मैं भी लंड पर हो रहे इस संकुचन के कारण खुद पर काबू नहीं रख पाया। उसके स्तनों को जोर से सहलाते हुए फिर मसलते हुए और उसके होंठों को जोर से काटते हुए, मैंने कराहते हुए कहा, "रुप्प्पाआआ , मैं तुम्हें बहुत प्यार.... कर .... हूं ... ओह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह।" और ....

रूपाली भाभी ने महसूस किया कि गरम गाढ़ा तरल पदार्थ जो उसकी योनि से होते हुए उसकी गर्भाशय तक पहुँच गया और उसकी गाण्ड के छेद के अंदर गरम गाढ़ा तरल पदार्थ घुस गया मेरा चिपचिपा वीर्य उसकी योनि और गांड के बाहर भी फ़ैल गया ..


रुपाली की चुदाई का ये अनुभव दिमाग चकरा देने वाला निकला था। फिल्म खत्म हो गई, और हम दोनों ने अपने सीट छोड दी और उठ गए, । रूपाली भाभी को लगा जैसे उसे नया ज्ञान मिला है । यह ऐसा था जैसे इससे पहले वो सेक्स से मिलने वाले सुख के बारे में अनजान थी और अब फिल्म थिएटर की पिछली पंक्ति में मैंने उसे "प्रकाश" के लिए प्रेरित किया था ।

उसे यह बहुत ज्यादा प्रतीकात्मक लग रहा था, उसने थिएटर में एक शर्मीली, अंतर्मुखी गृहिणी के रूप में प्रवेश किया था, जो सेक्स के लिए तड़प रही थी और , वह अब बाहर निकल रही थी, सेक्स के सुख के बारे में अधिक "निश्चित और आश्वस्त" और "प्रबुद्ध" थी।

हम हमारी कार लेकर घर आ गए । हम घर वापस आने के रास्ते में शांत थे। रूपाली भाभी ली के अंदर अभी भी हमारे मिश्रित रसो की नमी भरी हुई थी । मैं और वह सोचते रहे कि क्या हुआ था। वह आज से पहले एक शर्मीली और अंतर्मुखी गृहिणी थी।

रूपाली भाभी ने इस बारे में हमारे घर तक वापस आते हुए रास्ते में कार में सोचा कि जो हुआ वह याद रखने लायक अनुभव था। वास्तव में, यह चार भागों में एक अनुभव था।

१ शनिवार की रात में कुत्तों के सम्भोग का अवलोकन
2, सुबह सुबह मेरे खड़े हुए लंड का नजारा
३ सुबह में हमने आकस्मिक मौखिक सेक्स किया था और
4. थिएटर में तीन राउंड सम्भोग

उधर मेरे लिए इस सब के इलावा इसमें एक भाग ईशा से मुलाकात का भी था जिसकी कमसिन जवानी ने मुझे बहुत उत्तेजित कर दिया था और फिर रुपाली उस दिन उस गुलाबी साडी में बहुत सुन्दर लग रही थी और फिल्म देखने का ऐसा संयोग हुआ की थिएटर में सिर्फ हम दोनों ही एक कामुक फिल्म देख रहे थे जिसमे सेक्स दृश्यों की भरमार थी और फिर हमने तीन घंटो तक निर्विघ्न सेक्स किया.


कहानी जारी रहेगी
Reply

01-08-2022, 08:57 PM,
#60
RE: पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे
पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे

CHAPTER- 5

रुपाली - मेरी पड़ोसन

PART-14


सुपर संडे

इस पूरे सिनेमा हाल प्रकरण में फिल्म देखते हुए पूर्व-अंतराल चरण में वह बहुत डरी हुई थी, घबराई हुई थी, और उसमे विरोध करने की भी हिम्मत नहीं थी। जब मैंने उसके साथ उसके अंगो के कहना शुरू किया और मैं आगे बढ़ने लगा तो वह लोगो का उनकी तरफ ध्यान आकर्षित होने और फिर उसके बाद हंगमा खड़ा होने की सम्भावना से वो बहुत डर गई थी । मैंने हमारे अकेलेपण का फायदा उठाया, और उसने मुझे ऐसा करने की अनुमति दी, हालांकि उसके पास हमेशा इससे बचने के या मुझे रोकने का विकल्प था । हालाँकि वह डरी हुई थी, और यह नहीं चाहती थी कि ऐसा हो, इसे जारी रखने की अनुमति देकर, उसने अपनी मौन स्वीकृति दे दी थी।

उसने शुरू में मेरी हरकतों को "सहन" किया था जब मैंने उसके स्तनों को सहलाना शुरू कर दिया। उसके बाद जब मैंने उसका हाथ अपने लंड पर रख दिया था तो उसकी प्रतिक्रिया "अनिच्छुक जिज्ञासा" से अधिक थी .. यह बेहतर होने लगा, जब मैंने उसके स्तनों को प्यार करना शुरू किया, फिर ये उसके लिए "अनिच्छुक खुशी" थी।

मैं हमेशा उसे कोमलता से सहला रहा था और इससे उसे आसानी हुई और मेरे बिन बुलाए यौन आग्रहों में उससे मदद मिली। निष्क्रियता और भय को जीतकर उसने मुझे अपनी साड़ी, पेटीकोट, ब्लाउज और ब्रा उतारने और अपने स्तनों को बाहर निकालने की अनुमति दी, अपने स्तनों को चूसने के लिए अपनी ब्रा को ऊपर खींच कर मेरे मदद की , लेकिन जो बाद में " अनिच्छुक खुशी वांछित खुशी" में बदल गयी । बेशक, मेरे साथ सार्वजनिक थिएटर में संभोग सुख प्राप्त करना एक अंतिम अनुभव था।
पर अंतराल से पहले पूरा समय वो हिचकिचाती रही थी .

कुलमिला कर ये हम दोनों के लिए अनूठा अनुभव था और दोनों को बहुत सुखद लगा था , वह अभी भी असमंजस की स्थिति में थी, और उसी मानसिक स्थिति में, उसने हाल ने मेरा हस्तमैथुन भी किया था, उस अवस्था में उसके दिमाग के पीछे मुझे स्खलित होते हुए देखने की उत्सुकता भी थी।

अंतराल के समय पर, वह इसे जीवन की दुर्भाग्यपूर्ण शोषणकारी स्थितियों में से एक के रूप में स्वीकार करने और खुद को दोष देने के लिए तैयार थी।

अंतराल के बाद, स्थिति एक बार फिर से विकसित हुई। वह अब और अधिक आश्वस्त हो गई थी, और पहले की हिचकिचाहट गायब हो गई थी। हमने इस बार जो किया वह वास्तव में आश्चर्यजनक था। इस बार उसने कोई हिचकिचाहट महसूस नहीं की कि उसका फायदा उठाया जा रहा है, बल्कि इस बार हमारी यौन क्रिया कहीं अधिक भागीदारी और आपसी थी । यह ऐसा था जैसे उसने आनंद की खोज की की थी और अब कोई रुकावट भी नहीं थी । इस बार खुशी और जुनून दोनों के लिए सर्वोपरि था।

उसने इसके हर पल का आनंद लिया। वो विवाहित थी और उसका पति भी था, उसे इससे कोई फर्क नहीं पड़ता था। जब मैंने कहा, "मैं तुमसे प्यार करता हूँ," तो उसे मेरे समान कहने में कोई संकोच नहीं था, और उसने भी कहा, "मैं तुमसे प्यार करती हूँ" एक या दो बार नहीं कई बार उसने ऐसा कहा ।

यह एक सार्वजनिक स्थान पर एक जोखिम भरा कार्य था जो उसे परेशान करने के लिए नहीं था, और वह उसके पास जो जुनून था उसके कारण वह दोपहर में मेरे साथ अपने फ्लैट और थियेटर में सेक्स के हर पल का आनंद ले पायी थी। उसने मुझे अपनी चूत को उँगलियों से सहलाने की इजाजत दे दी थी और दोपहर में मेरे लंड को अपने मुँह में डाल उसने चुसा था , थिएटर में मैंने उसके स्तनों को सहलाया और दबाया और यहाँ तक कि उसकी पैंटी को खोलने के लिए, उसकी ब्रा को खोल दिया और मुझे उन्हें चाटने दिया और मैं उसके निप्पलों को चूसने लगा।

मैंने उसका हस्तमैथुन करने के लिए उसका पेटीकोट और पैंटी खोल दी थी, एक बार नहीं बल्कि तीन बार, जो बहुत ही आनंददायक था। मैंने उसकी योनी को भी चाट लिया था, जो कि स्वर्गीय थी। उस बात के लिए, उसने मेरेर लंड को स्वेच्छा से सहलाया था, मेरा हस्तमैथुन किया था, ओरल सेक्स किया था, स्वेच्छा से मेरे लंड को न केवल दोपहर में एक बार चूसा था, बल्कि दो बार थिएटर में भी चखा और मेरा वीर्य निगल लिया। लेकिन जब मैंने उसे अंत में चोदा तो ये सर्कल पूरा हो गया। वह अब पूरी, आजाद और आत्मविश्वासी महसूस कर रही थी।

वह सालों तक अपनी किस्मत को कोसने के लिए इसे "नकारात्मक" तरीके से भी ले सकती थी। इसने अपने जीवन में एक नया अध्याय खोला था। हम अपार्टमेंट से कुछ गज की दूरी पर कार से बाहर निकले, वहां अंधेरा था और कुछ देर साथ चलने का फैसला किया।

उसने मेरी आँखों में गहराई से देखा और कहा, "जब तक आप हमारे साथ हैं, मैं एक पति होने के बावजूद आपकी प्रेमीका और पत्नी बनना चाहूंगाी क्या आप मुझे स्वीकार करेंगे?"

"हाँ, मेरे प्रिय, इस पल से, तुम मेरी प्यार पत्नी ही हो ।" मैंने कहा और उसके होठों पर एक गर्म चुम्बन किया और उसे आई लव यू कहा

उसके बाद हम घर आये और उसके बाद सो गए

अगले दिन रविवार था वो चाय देने आयी तो मैं गहरी नींद में था और बाकी सब भी गहरी नींद में सो रहे थे मेरा लंड लुंगी से बाहर निकला हुआ था .. मेरे बड़े खड़े हुए लंड को देखकर रुपाली को अपनी चूत के अंदर एक सनसनी सी महसूस हुई। उसने लंबे समय तक मेरा विशाल लंड की मन्त्रमुुग्ध हो कर देखा, उसे जल्द ही होश आ गयाऔर उसने खुद को नियंत्रित किया दरवाज बंद किया ।

वह जल्दी से मेरे बिस्तर के पास पहुंची और लुंगी को हटाया और अपने हाथ से मेरे लंड और अंडकोषों को छूने लगी । उसने अपना हाथ ऊपर नीचे किया और उसने हाथ ऊपर नीचे करना शुरू किया, रुपाली ने अपनी हाथों को मेरे लौड़े पर चलाना शुरू कर दीया । वो सोच ही रही थी की वो इसे चूसे या सीधे योनि के अंदर ले ले थोड़ी देर तक मेरे लंड को रगड़ने के बाद उसने फैला कर लिया अब वो ज्यादा समय नहीं लेगी

उसने अपनी रात की ड्रेस जो वो पहन कर सोती थी उसे ऊपर किया और हाथ से लंड को पकड़ा और मेरे ऊपर बैठी और लंड को छूट के ऊपर लगाया और लंड सीधा अनादर चला गया और वो मेरे ओंठो पर झुकी मुझे किस कर के बोली गुड मॉर्निंग जानू ..तो मैंने आँखे खोली तो रूपलाई मेरे ऊपर छड़ी हुई थी मेरा लंड उसकी योनि के अंदर था और उसका मुँह मेरे मुँह पर था ..

मैं उसे किस करने लगा .. अब वह मेरे उपर बैठ कर अपनी चुत में मेरा लण्ड लेने लगी, पूरा 9 ईन्च का लण्ड को सुपारे से टट्टो तक को दबा दबा कर चुदवा रही थी, रुपाली भाभी की हालत इस तरह हो रही थी जैसे किसी मछ्ली को गरम रेत पर छोड दिया गया हो। वह साथ साथ अपने मुंह से अजीब अजीब आवाजें आआआह… ऊऊउउउम्म्म्मम म्म्मम… आईईईईई -सीईईईईसीई….. आआआ…. निकाले जा रही थी। आज तो बहुत खुजली हो रही है इस में ! और जोर से करो जोर से और जोर से

उसे देख कर मेरी रफ़्तार में बेतहाशा तेजी आ गई, चुदाई के मारे रुपाली भाभी का बुरा हाल था, अब उससे रुका नहीं जा रहा था- मेरा तो बस होने वाला है, मैं गई, मैं गई ! आह्ह्हह्ह …. फ़ा…. ड़……..दो…. पूरा डाल डाल कर पेलो !

तुम अब घोड़ी बन जाओ !

ठीक है,

घोड़ी बनाने के बाद मैंने घुटने के बल हो कर उसकी बुर में एक बार फ़िर से अपना लण्ड घुसेड़ दिया, उसने कभी घोड़ी बन कर चुदाई नहीं करवाई थी इसलिए इस अवस्था में उसकी बुर थोड़ी कस गई थी, लण्ड अटक अटक कर जा रहा था, मुझे अब ज्यादा ताकत लगा कर उसकी बुर में डालना पड रहा था, हर धक्के पर उसकी मुँह से हल्की हल्की चीख निकल रही थी- आईईईईईई सीईईईसीई ….. आआआआ….
चोद डालो काका ! आज पूरी तरह से फ़ाड दो कल अगर कोई कमी रह गया हो तो आज पूरी कर दो ! .. और वो झड़ गयी

करीब दस-पन्द्रह मिनट के बाद मेरा भी लन्ड झड़ने को हो गया, मैंने रुपाली भाभी से कहा- बस अब मेरा भी काम होने वाला है !

आठ-दस धक्कों के बाद लन्ड की पिचकारी छुट पड़ी और मैं अपना सार वीर्य उसकी योनि में भरता चला गया। थोड़ी देर हम उसी पोजिशन में रहे, लन्ड अपने आप सुकड़ कर बाहर आ गया। वह उठी और बाथरुम में जा कर अपनी चुत को साफ़ करने लगी। पाँच मिनट बाद वो बाहर निकली तो उसके चेहरे पर सन्तुष्टि के भाव थे- काका मेरी तो चुत बुरी तरह से सूज गई है ! बाप रे आपका लंड बहुत बड़ा है मेरे बुरी हालत कर देता है .. मेरे पति का तो इससे आधा भी नहीं है .. और मैंने 7-८ साल से सेक्स किया भी नहीं है और अपने कल मेरे साथ सब कुछ कर दिया .. और आज इसे खड़ा देख कर मुझ से रुका नहीं गया ..

कहानी जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Meri bibi ke chudai ne full stories Devilian saha 175 42,234 09-23-2022, 09:53 PM
Last Post: Devilian saha
  Ye kaisa sanjog sexstories 14 53,306 09-02-2022, 06:56 PM
Last Post: lovelylover
Information Sassy Poonam viral MMS Rakeshmr 0 5,718 08-07-2022, 05:29 PM
Last Post: Rakeshmr
  बिना शादी के सुहागरात ! sakshiroy123 1 34,456 07-06-2022, 02:50 PM
Last Post: fuqay
  खाला की चुदाई के बाद आपा का हलाला aamirhydkhan 45 112,053 06-24-2022, 09:06 AM
Last Post: aamirhydkhan
  Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र aamirhydkhan 20 32,550 06-24-2022, 08:55 AM
Last Post: aamirhydkhan
  My Memoirs – 1. Reema George Abhimanyu69 1 10,194 04-30-2022, 10:37 AM
Last Post: solarwind
  Gulnaaz kumarsiddhant268 3 7,430 04-30-2022, 10:36 AM
Last Post: solarwind
  Mere Haseenaye. Rohan45 3 7,425 04-30-2022, 10:33 AM
Last Post: solarwind
  Mera pehela interview Massage center me Cutty Amruti 2 9,104 04-30-2022, 10:32 AM
Last Post: solarwind



Users browsing this thread: 2 Guest(s)