फंसाया जाल में
08-28-2021, 05:48 PM,
#1
फंसाया जाल में
युसूफ मेरा बचपन का दोस्त था. बड़े होने के बाद हम पहले जितने नज़दीक नहीं रहे थे पर हम एक ही शहर में रहते थे इसलिए हमारा मिलना होता रहता था. युसुफ़ को आप एक आम आदमी कह सकते हैं. वो दिखने में आम आदमी जैसा है, आम किस्म का बिजनेस करता है और औसत आर्थिक स्तर का है. लेकिन उसके मुताल्लिक एक बात आम आदमियों से अलग है और वो है उसकी बीवी वहीदा. देखने में वो उतनी ही खूबसूरत है जितनी किसी ज़माने में फिल्म एक्ट्रेस वहीदा रहमान हुआ करती थी. जब युसुफ़ से उसकी शादी हुई तो मैं हैरान रह गया कि इस युसूफ के बच्चे को ऐसी हूर कैसे मिल गई!
वहीदा को देखते ही मेरे दिल की धडकनें बेकाबू हो जाती थीं, मेरे मुंह में पानी आ जाता था और मेरे दिल में एक ही ख़याल आता था किसी तरह ये मुझे मिल जाए! मेरा ही क्या, और सब मर्दों का भी यही हाल होता होगा. एक बार उसके चेहरे पर नज़र पड़ जाए तो वहां से नज़र हटाना मुश्किल हो जाता था. उसके होंठ तो चुम्बन का मौन निमंत्रण देते प्रतीत होते थे. चेहरे से किसी तरह नज़र हट भी जाए तो उसके सीने पर जा कर अटक जाती थी. उसके सुडौल, पुष्ट और उठे हुए स्तन मर्दों को दावत देते लगते कि आओ, हमें पकड़ो, हमें सहलाओ, हमें दबाओ और हमारा रस पीयो. अगर नज़र थोड़ी और नीचे जाती तो ताज्जुब होता कि इतनी पतली और नाज़ुक कमर सीने का बोझ कैसे उठाती होगी. मैं कभी उसके पीछे होता और उसे चलते हुए देखता तो उसके लरजते, थर्राते और एक-दूसरे से रगड़ते नितम्ब देख कर मैं तमाम तरह की नापाक कल्पनाओं में खो जाता!
कुल मिला कर कहा जा सकता है कि वहीदा जैसी हसीन औरत बनाने के पीछे ऊपर वाले के दो ही मकसद रहे होंगे पहला, कमबख्त युसूफ की ख्वाबगाह को जन्नतगाह बनाना और दूसरा, बाकी सब मर्दों के ईमान का इम्तेहान लेना. मुझे यह कहने में कोई हिचक नहीं है कि इस इम्तेहान में मैं फेल साबित हुआ था. मैं जब-जब वहीदा को देखता, मेरा लंड कपड़ों के अन्दर से उसे सलामी देने लगता था. अपने मनचले लंड को उसकी चूत की सैर करवाने के ख्वाब मैं सोते-जागते हर वक़्त देखा करता था.
युसूफ का दोस्त होने के कारण मुझे वहीदा से मिलने के मौके जब-तब मिल जाते थे. मैं अपनी मर्दाना शख्सियत से उसे इम्प्रेस करने की पूरी कोशिश करता था. अपनी तारीफ सुनना हर औरत की आम कमजोरी होती है. वहीदा की इस कमजोरी का फायदा उठाने की कोशिश भी मैं हमेशा करता रहता था. पर इस सब के बावजूद मैं अपने मकसद में आगे नहीं बढ़ पाया और मेरी कामयाबी सिर्फ उसके जलवों से अपनी आंखें सेकने तक ही सीमित रही.
***********************************************
एक दिन युसूफ मेरे ऑफिस में मेरे से मिलने आया. वो निहायत परेशान लग रहा था पर अपनी बात कहने में झिझक रहा था. मेरे बार-बार पूछने पर उसने बड़ी मुश्किल से मुझे बताया, “एहसान, मैं बड़ी मुश्किल में पड़ गया हूं. मुझे मदद की जरूरत है लेकिन ऐसे मामले में तुम्हारी मदद मांगने में मुझे शर्म आ रही है.
युसूफ, हम एक-दूसरे के सच्चे दोस्त हैं,” मैंने कहा. अगर मुझे मदद की जरूरत होती तो मैं सबसे पहले तुम्हारे पास ही आता. तुमने ठीक किया कि तुम मेरे पास आये हो. अब मुझे बताओ कि मसला क्या है.
मसला मेरे बिज़नेस से ताल्लुक रखता है,” युसूफ ने सर झुका कर कहा. एक पार्टी के पास मेरे पैसे अटक गए हैं. वे दो-तीन हफ़्तों का वक़्त मांग रहे हैं. लेकिन उससे पहले मुझे अपने सप्लायर्स को दस लाख रुपये चुकाने हैं. बैंक से मैं जितना लोन ले सकता हूं उतना पहले ही ले चुका हूं. अगर मैंने ये दस लाख रुपये फ़ौरन नहीं चुकाए तो मैं बड़ी मुश्किल में पड़ जाऊंगा.
युसूफ की बात सुन कर मेरी आंखों के सामने वहीदा की तस्वीर घूमने लगी. मुझे अपने नाकाम मंसूबे पूरे करने का मौका नज़र आने लगा. दस लाख रुपये काफी बड़ी रकम थी, खास तौर से युसूफ के लिये. मैं सोच रहा था कि अगर मैं युसुफ़ को यह रकम दे दूं और वो इसे वक़्त पर न लौटा पाए तो क्या मैं अपने मकसद में कामयाब हो सकता हूं! मैंने यह रिस्क लेने का फैसला किया और युसूफ से कहा, “इस मुसीबत के वक़्त तुम्हारी मदद करना मेरा फर्ज़ है पर दस लाख की रकम बहुत बड़ी है.
मैं जानता हूं,” युसूफ ने जवाब दिया. इसीलिए मैं तुमसे कहने में झिझक रहा था. लेकिन बात सिर्फ एक महीने की है. अगर किसी तरह तुम इस रकम का इंतजाम कर दो तो मैं हर हालत में एक महीने में इसे लौटा दूंगा.
मेरे शातिर दिमाग में तरह-तरह के नापाक खयाल आ रहे थे. मेरी आँखों के सामने घूम रही वहीदा की तस्वीर से कपड़े कम हो रहे थे. मैं उम्मीद कर रहा था कि युसूफ की कारोबारी मुश्किलें कम नहीं हों और वो वक़्त पर मेरा क़र्ज़ न उतार पाए. उस सूरत में युसूफ क़र्ज़ अदा करने की मियाद बढाने की गुज़ारिश करेगा और मेरे वहीदा तक पहुँचने का रास्ता खुल सकता है. वैसे यह दूर की कौड़ी थी. मुमकिन था कि युसुफ वक़्त पर पैसों का इंतजाम कर ले. और इंतजाम न भी हो पाए तो लाजमी नहीं था कि वहीदा मेरी झोली में आ गिरे. पर उम्मीद पर दुनिया कायम है. फिर मैं उम्मीद क्यों छोड़ता!
मैंने युसूफ को कहा, “दस लाख रुपये देने में मुझे कोई दिक्क़त नहीं है पर तुम जानते हो कि बिजनेस में लेन-देन लगातार चलता रहता है. मुझे भी अपनी देनदारियां वक़्त पर पूरी करनी होंगी. इसलिए मैं एक महीने से ज्यादा के लिए क़र्ज़ नहीं दे पाऊंगा.
यह सुन कर युसूफ खुश हो गया. उसने कहा, “तुम उसकी चिंता मत करो. मैं एक महीने से पहले ही यह रकम लौटा दूंगा.
मुझे तुम पर पूरा यकीन है,” मैंने सावधानी से कहा. लेकिन मेरे पास कोई ब्लैक मनी नहीं है. मुझे पूरा लेन-देन अपने खातों में दिखाना होगा.
हां, हां! क्यों नहीं? मुझे कोई एतराज़ नहीं है.युसूफ ने कहा.
मैंने कहा, “ठीक है, तुम कल इसी वक़्त यहाँ आ जाना. तुम्हारा काम हो जाएगा.
युसूफ खुश हो कर वापस गया. मैं भी खुश था क्योंकि अब मेरा काम होने की भी सम्भावना बन रही थी.
जब युसूफ अगले दिन आया तो वो कुछ चिंतित दिख रहा था, शायद यह सोच कर कि मैं रुपयों का इंतजाम न कर पाया होऊं! जब मैंने मुस्कुरा कर उसका स्वागत किया तो उसकी चिंता कुछ कम हुई. अब मुझे होशियारी से बात करनी थी. मैंने थोड़ी ग़मगीन सूरत बना कर कहा, “युसूफ, रुपयों का इंतजाम तो हो गया है लेकिन ...
युसूफ ने मुझे अटकते देखा तो पूछा, “लेकिन क्या? अगर कोई दिक्कत है मुझे साफ-साफ बता दो.
दिक्कत मुझे नहीं, मेरे ऑफिस के लोगों को है,” मैंने अपने शब्दों को तोलते हुए कहा. मुझे तुम्हारे पर पूरा भरोसा है लेकिन मेरे ऑफिस वाले कहते हैं कि पूरी लिखा-पढ़ी के बाद ही रकम दी जाए.
तो इसमें गलत क्या है?” युसूफ ने फौरन से पेश्तर जवाब दिया. इतनी बड़ी रकम कभी बिना लिखा-पढ़ी के दी जाती है! तुम्हारे ऑफिस वाले बिलकुल ठीक कह रहे हैं. तुम उनसे कह कर कागजात तैयार करवाओ.
अब मैं उसे क्या बताता कि कागजात तो मैंने पहले से तैयार करवा रखे हैं और उनमे वक़्त पर क़र्ज़ अदा न होने की सूरत में कड़ी पेनल्टी की शर्त रखी गई है. खैर अपने आदमियों को एग्रीमेंट बनाने की हिदायत दे कर मैंने चाय के बहाने कुछ वक़्त निकाला.
कुछ देर बाद मेरा आदमी एग्रीमेंट ले कर आया. मुझे डर था कि उसे पढ़ कर युसूफ अपना इरादा न बदल दे. पर मुझे यह भी मालूम था कि उसे कहीं और से इतना बड़ा क़र्ज़ नहीं मिलने वाला था. बहरहाल उसने सरसरी तौर पर एग्रीमेंट पढ़ा और बिना झिझक उस पर दस्तखत कर दिए. जब युसूफ ने चैक अपनी जेब में रखा तो मुझे अपनी योजना का पहला चरण पूरा होने की तसल्ली हुई.
****************************************************
मेरे अगले एक-दो हफ्ते बड़ी बेचैनी से गुजरे. मैं लगातार युसूफ के बिजनेस की यहां-वहां से जानकारी जुटाता रहा. जैसे-जैसे मुझे खबर मिलती कि उसके पैसे अब भी अटके हुए हैं, मेरी ख़ुशी बढ़ जाती. आम तौर पर क़र्ज़ देने वाला उम्मीद रखता है कि उसके पैसे वक़्त पर वापस आ जायें पर मैं उम्मीद कर रहा था कि यह क़र्ज़ वक़्त पर न लौटाया जाए. जब तीन हफ्ते गुजर गए और मुझे युसूफ की मुश्किलें कम होने की खबर नहीं मिली तो मेरे अरमानों के पंख लग गए. अब मेरी कल्पना में वहीदा लगभग नग्न दिखने लगी थी. जब क़र्ज़ की मियाद पूरी होने में सिर्फ तीन दिन बचे थे तब युसूफ का फ़ोन आया. उसने मुझे शाम को डिनर की दावत दी तो मुझे आश्चर्य के साथ-साथ ख़ुशी भी हुई.
मेरी ख़ुफ़िया जानकारी के मुताबिक युसूफ अब तक पैसों का इंतजाम नहीं कर पाया था. मुझे यकीन था कि वो क़र्ज़ की मियाद बढाने की बात करेगा. मुझे इसका क्या और कैसे जवाब देना था यह मैंने सोच रखा था. क्योंकि युसूफ ने मेरी बेग़म को नहीं बुलाया था, मुझे लगा कि आज की रात मेरी किस्मत खुल सकती है! मैं रात के आठ बजे उसके घर पहुँच गया. मैं वहीदा के लिए एक कीमती गुलदस्ता ले गया था.
युसूफ ने गर्मजोशी से मेरा स्वागत किया और मुझे ड्राइंग रूम में बैठाया. कुछ मिनटों के बाद वहीदा मुझे सलाम करने आई. उसको देखते ही मुझे लगा कि आज का दिन कुछ अलग किस्म का है. उसकी चाल, उसकी मुस्कुराहट, उसका पहनावा ... सब कुछ अलग और दिलनशीं लग रहा था. उसने एक बहुत चुस्त साटिन की कमीज़ पहन रखी थी. कमीज़ का गला काफी लो-कट था जिसमे से उसके एक-चौथाई मम्मे और उनके बीच की घाटी दिख रही थी. उसके दिलफरेब मम्मे तो जैसे कमीज़ से बाहर निकलने को अकुला रहे थे. आमतौर पर मेरी नज़र उसके हसीन चेहरे पर अटक कर रह जाती थी पर आज मैं उसके सीने से नज़र नहीं हटा पा रहा था.
जब वहीदा ने थोड़ी जोर से सलाम, एहसान साहबकहा तो मैं अपने खयालों की जन्नत से हकीकत की दुनिया में लौटा. उसने देख लिया था कि मेरी निगाहें कहाँ अटकी थी. पर वो नाराज़ दिखने की बजाय खुश दिख रही थी. मैंने शर्मा कर उसके सलाम का जवाब दिया. जब वो बैठ गई तो मेरी नज़र उसके बाकी जिस्म पर गयी. वो एक नई नवेली दुल्हन की तरह खुशनुमा लग रही थी. अचानक मुझे गुलदस्ते की याद आई जो अभी तक मेरे हाथ में था. मैंने उठ कर गुलदस्ता उसे दिया तो उसके हाथ मेरी उँगलियों से छू गये. उस छुअन से मेरे शरीर में एक हल्का सा करंट दौड़ गया. युसूफ कुछ बोल रहा था जिस पर मेरा बिलकुल ध्यान नहीं था क्योंकि मेरा पूरा ध्यान तो वहीदा की खूबसूरती पर केन्द्रित था. वो भी बीच-बीच में मुझे एक मनमोहक अदा से देख लेती थी.
कुछ देर बाद वहीदा ने कहा कि उसे किचन में काम करना था और वो उठ कर चली गई. युसूफ और मैं बातें करते रहे पर मेरा दिमाग कहीं और ही था. हां, बीच-बीच में मैं उम्मीद कर रहा था कि युसूफ क़र्ज़ की बात छेड़ेगा पर ऐसा कुछ नहीं हुआ. मैंने भी सोचा कि जल्दबाजी से कोई फायदा नहीं होगा. मुझे इंतजार करना चाहिए. तभी वहीदा ने आ कर कहा कि खाना तैयार है. हम उठ कर डाइनिंग रूम में चले गए. वहीदा खाना परोसने के लिए झुकती तो मुझे लगता कि वो जानबूझ कर मुझे अपने मम्मों की झलक दिखा रही है. मैं उसके मम्मों पर नज़र डालने के साथ-साथ यह भी कोशिश कर रहा था कि युसूफ को कोई शक न हो. मुझे यह भी लग रहा था कि वो या तो मेरी लालची नज़रों से अनजान है या फिर जानबूझ कर अनजान बन रहा है.
खाना परोसने के बाद वहीदा मेरे सामने की कुर्सी पर बैठ गई. मेज की चौड़ाई ज्यादा नहीं थी इसलिए मेरे घुटने एक-दो बार वहीदा के घुटनों से छू गये. उसने कोई नाखुशी जाहिर नहीं की तो मेरी हिम्मत बढ़ गई. मैं जानबूझ कर अपने घुटने उसके घुटनों से टकराने लगा. मुझे आशंका थी कि वो अपने घुटने पीछे खींच लेगी पर उसने ऐसा कुछ नहीं किया. हां, उसकी नज़रें शर्म से झुक गई थीं. मैं युसूफ की तरफ देखते हुए उससे बात करने लगा और साथ ही मैंने अपने घुटने से वहीदा के घुटने को एक-दो बार सहलाया. उसने भी जवाब में मेरे घुटने को अपने घुटने से सहला कर जैसे इशारा कर दिया कि उसे कोई एतराज़ नहीं था. वो बीच-बीच में हमारी बातचीत में भी भाग ले रही थी और दिखा रही थी जैसे सब कुछ सामान्य हो. उसका व्यवहार मेरे शरीर में रोमांच पैदा कर रहा था. मेरी हिम्मत और बढ़ गई और मैंने उसकी समूची टांग को अपनी टांग से सहलाना शुरू कर दिया. अब मेरा ध्यान खाने से हट चुका था. मुझे कुछ पता नहीं था कि युसूफ क्या बोल रहा था. मेरा ध्यान सिर्फ उन तरंगों पर था जो मेरी टांगों से उठ कर ऊपर की तरफ जा रही थीं और जिनका सीधा असर मेरे लंड पर हो रहा था.
अचानक वहीदा की सुरीली आवाज ने मुझे जैसे नींद से जगाया. वो कह रही थी, “शायद एहसान साहब को खाना पसंद नहीं आया. ये तो कुछ खा ही नहीं रहे हैं!
वहीदा ने ये बात युसूफ को कही थी पर मैंने फ़ौरन जवाब दिया, “यह कैसे हो सकता है कि तुम जो बनाओ वो किसी को पसंद न आये. तुम्हारे हाथों में तो जादू है. लेकिन मुश्किल ये है कि मुझे समझ में नहीं आ रहा है कि मैं क्या खाऊं.
जवाब के साथ-साथ वहीदा की तारीफ भी हो गई जो उसे जरूर अच्छी लगी होगी. मेज के नीचे मेरा पैर अब उसकी पिंडली की मालिश कर रहा था. उसकी सलवार ऊपर उठ चुकी थी. मुझे यकीन नहीं हो रहा था कि मैं युसूफ की मौजूदगी में उसकी बीवी की नंगी टांग को अपने पैर से सहला रहा था और वो इससे बेखबर था. मुझे यह शक भी हो रहा था कि कहीं वो जानते हुए अनजान तो नहीं बन रहा था.
मैंने अपना पैर पीछे खींचा तो वहीदा के चेहरे पर निराशा का भाव आया. पर वो जल्दी ही संभल गई और सामान्य तरीके से बात करने लगी. मैंने भी अपना ध्यान बातचीत और खाने की तरफ मोड़ दिया. कुछ देर में डिनर ख़त्म हो गया. हाथ धोने के बाद मैंने फिर वहीदा से खाने की तारीफ की. युसूफ ड्राइंग रूम की तरफ बढ़ चुका था. वहीदा ने धीरे से मुझे कहा, “आप बहुत दिलचस्प बातें करते हैं. मैं दिन में घर पर ही रहती हूँ. आप जब चाहें यहाँ आ सकते हैं.
यह तो खुला निमंत्रण था. आज शाम वो नहीं हुआ जिसकी मुझे उम्मीद थी पर आगे के लिए रास्ता खुल चुका था. और मुझे नहीं लगा कि यह युसूफ की जानकारी के बिना हुआ होगा. मैं दिखने में बेशक युसूफ से बेहतर हूं पर इतना भी नहीं कि वहीदा जैसी दिलफ़रेब औरत मुझ पर फ़िदा हो जाए. यह कमाल तो उस क़र्ज़ का था जो वक़्त पर वापस आता नहीं लग रहा था. खैर, अगर वहीदा ब्याज देने के लिए तैयार है तो मैं इतना बेवक़ूफ़ नहीं हूँ कि यह सुनहरा मौका छोड़ दूं! यह सोचते-सोचते मैं अपने घर पहुँच गया. मेरे दिल-ओ-दिमाग पर पूरी तरह वहीदा का नशा छाया हुआ था. मुझे अपनी बेग़म में वहीदा का अक्स नज़र आ रहा था. सोने से पहले मैंने उनकी चूत को इतना कस कर रगड़ा कि वे भी हैरान रह गयीं.
अगली सुबह भी वहीदा का अक्स बार-बार मेरी नज़रों के सामने आ रहा था. मैं अपने दफ्तर पहुंचा तो मैं अपने काम पर कंसन्ट्रेट नहीं कर पाया. मुझे अपने कॉलेज के दिन याद आ गए. जब मैं कॉलेज में नया-नया पहुंचा था तब मैं अपनी इंग्लिश की लेक्चरर पर इस कदर फ़िदा हो गया था कि मैं रात-दिन उनके सपने देखता रहता था. मुझे लगता था कि वे मुझे नहीं मिलीं तो मैं ट्रेन के आगे कूद कर अपनी जान दे दूंगा. सपनों में मैं न जाने कितनी बार उन्हें चोद चुका था. आज मेरी हालत फिर वैसी ही हो गई थी. उस लेक्चरर की जगह अब वहीदा ने ले ली थी. फर्क यह था कि वो लेक्चरर मेरी पहुँच से दूर थी जबकि वहीदा मुझे हासिल हो सकती थी. हो सकता था कि वो इस वक़्त मेरा इंतजार कर रही हो. उसने साफ़ कहा था कि मैं कभी भी उससे मिलने जा सकता था. मैं यह तय नहीं कर पा रहा था कि मैं आज ही उससे मिलूँ या दो दिन और इंतजार करूं. मेरा दिमाग कह रहा था कि दो दिन बाद युसूफ को मेरी हर बात माननी पड़ेगी. वो मजबूर हो कर वहीदा को मेरे हवाले करेगा. लेकिन मेरा दिल कह रहा था कि वहीदा तो आज ही मेरी आगोश में आने के लिए तैयार है. फिर मैं उसके लिए दो दिन क्यों तरसूं!
मैंने अपने दिल की बात मानने का फैसला किया. हिम्मत कर के मैं युसूफ के घर की तरफ रवाना हो गया. मैंने कार को उसके घर से थोड़ी दूर छोड़ा और पैदल ही घर तक पहुंचा. घंटी बजाने के बाद मैं बेसब्री से वहीदा से रूबरू होने का इंतजार करने लगा. दरवाजा खुलने में देर हुई तो मेरे मन में शक ने घर कर लिया. मैं सोचने लगा कि मैंने यहाँ आ कर कोई गलती तो नहीं कर दी! दो मिनट के लम्बे इंतजार के बाद दरवाजा खुला. वहीदा मेरे सामने थी पर उसके चेहरे पर मुझे उलझन नज़र आ रही थी. मैंने थोड़ी शर्मिंदगी से कहा, “शायद मैं गलत वक़्त पर आ गया हूं. मैं चलता हूं.
नहीं, नहीं! ऐसी कोई बात नहीं है. आप अन्दर आइये.उसने पीछे हट कर मुझे अन्दर आने का रास्ता दिया.
लेकिन तुम कुछ उलझन में दिख रही हो,” मैंने अन्दर आते हुए कहा.
नहीं, उलझन कैसी?” उसने कहा. आप बैठिये. मैं फ़ोन पर बात कर रही थी कि दरवाजे की घंटी बज गई. मैं बात ख़त्म कर के अभी आती हूँ.
 
अब मैंने इत्मीनान की सांस ली. मेरे आने से वहीदा की फ़ोन पर हो रही बात में खलल पड़ गया था इसलिए वो परेशान दिख रही थी और मैं कुछ का कुछ सोचने लगा था.
वहीदा दो मिनट में वापस आ गई. न जाने यह मेरा भ्रम था या हकीकत पर इस बार वो पहले से ज्यादा दिलकश लग रही थी. उसके व्यवहार में भी अब गर्मजोशी आ गई थी. उसने पूछा, “आप चाय लेंगे या कॉफ़ी ... या कुछ और?”
कुछ औरसुन कर तो मेरा दिल बल्लियों उछलने लगा. मैं कुछ औरलेने के लिए ही तो आया था पर थोडा तकल्लुफ दिखाना भी लाजमी था.  मैंने कहा, “तुम्हे तकलीफ करने की जरूरत नहीं है. मैं तो सिर्फ तुम से मिलने के लिए आया हूं क्योंकि कल तुम्हारे साथ ज्यादा बात नहीं हो सकी थी.
वहीदा ने कहा, “इसमें तकलीफ की क्या बात है! मैं तो वैसे भी चाय पीने वाली थी. लेकिन आप कुछ और लेना चाहें तो ...
फिर कुछ औरसुन कर तो मेरा मन उसे दबोचने पर आमादा हो गया. पर मैंने अपने आप पर काबू करते हुए कहा, “तुम्हारे हाथ की चाय पीने का मौका मैं कैसे छोड़ सकता हूँ!
मैं अभी आती हूं,” उसने कहा.
वहीदा किचन में चली गई तो मेरे दिल में नापाक खयाल आने लगे. मैं सोच रहा था कि जो हाथ चाय बना रहे हैं वो मेरे लंड के गिर्द होते तो कैसा होता! मेरे होंठ चाय के प्याले के बजाय वहीदा के होंठों पर हों तो कैसा रहेगा! और वो दुबारा कुछ औरकी पेशकश करे तो क्या मैं उसे बता दूँ कि मेरे लिए कुछ औरका मतलब उसकी चूत है? फिर मैंने सोचा कि मैं कहीं खयाली पुलाव तो नहीं पका रहा हूं! ऐसा न हो कि मैं जो सोच रहा हूं वो हो ही नहीं और मुझे खाली हाथ लौटना पड़े.

क्रमशः
Reply

08-28-2021, 05:53 PM,
#2
RE: फंसाया जाल में
कुछ मिनट बाद वहीदा चाय की ट्रे ले कर आई. ट्रे मेज पर रख कर उसने प्यालों में चाय डाली. जब वो मुझे प्याला देने के लिए आगे झुकी तब मुझे पता चला कि वो कपडे बदल चुकी थी. उसकी कमीज़ के गले से न सिर्फ मुझे उसके दिलकश मम्मे दिख रहे थे बल्कि इस बार तो मुझे उसके निपल की भी झलक दिख रही थी. मम्मे बिलकुल अर्ध-गोलाकार और दूधिया रंग के थे. इस रोमांचक दृश्य ने मेरे दिल की धड़कने बढ़ा दीं. मेरा मन कर रहा था कि मैं उसके मम्मों को कपड़ों की क़ैद से आजाद कर दूं. उधर मेरा लंड भी कपड़ों से बाहर निकलने के लिए मचल रहा था. मेरी नज़रें पता नहीं कब तक उन दिलफरेब मम्मों पर अटकी रहीं. एक सुरीली आवाज ने मुझे खयालों कि दुनिया से बाहर निकला, “एहसान साहब, चाय लीजिये ना!
मैंने चौंक कर वहीदा के चेहरे की तरफ देखा. वो देख चुकी थी कि मेरी नज़रें कहाँ अटकी हुई थीं. जब हमारी नज़रें मिली तो उसके रुखसार शर्म से लाल हो गए. मैंने प्याला लेने के लिए हाथ बढाया तो कल की तरह हमारे हाथ टकराए और मेरा शरीर झनझना उठा. मैंने किसी तरह अपने जज्बात पर काबू पाया और प्याला ले लिया. वहीदा भी अपना प्याला ले कर मेरे पास बैठ गई. उसके जिस्म से उठती महक मुझे मदहोश कर रही थी. यह पहला मौका था जब मैं उसके साथ अकेला था. मैं थोडा घबरा भी रहा था कि मैं उत्तेजनावश कुछ ऐसा न कर बैठूं जिससे वो नाराज़ हो जाए. मेरे हाथ पसीने से इस कदर गीले थे कि मुझे प्याला थामने में मुश्किल हो रही थी. मेरी धडकनों की आवाज तो वहीदा के कानों तक पहुँच रही होगी.
वहीदा ने शायद मेरी दिमागी हालत भांप ली थी. वह बोली, “आप कुछ बोल नहीं रहे हैं. शायद मेरे साथ बोर हो रहे हैं!
मैंने अपने आप को संभाल कर कहा, “बोर और तुम्हारे साथ? मैं तो खुद को खुशकिस्मत समझ रहा हूँ कि मैं तुम्हारे जैसी नफीस और हसीन खातून के पास बैठा हूं.
मुझे यकीन है कि आप हर खातून को यही कहते होंगे,” वहीदा ने शरारत से कहा.
तो मैं तुम्हे चापलूस लगता हूं,” मैंने झूठी नाराज़गी दिखाते हुए कहा. सच तो यह है कि तुम्हारे जैसी खूबसूरत और जहीन औरत मैंने आज तक नहीं देखी. और अब देख रहा हूं तो यह क़ुबूल करने में क्या हर्ज़ है!मुझे फिर लग रहा था कि औरत को पटाने के लिए चापलूसी एक बेहद कारगर हथियार है और मुझे इसका भरपूर इस्तेमाल करना चाहिए.
अच्छा? तो बताइये कि मैं आपको जहीन कैसे लगती हूँ?” वहीदा ने पूछा.
यह सवाल वाकई मुनासिब था. इसका जवाब देना आसान नहीं था पर औरत की तारीफ में कंजूसी करना भी मुनासिब नहीं है. इसलिए मैंने कहा, “जैसे तुमने अपने घर को संवार रखा है और जैसे तुम अपने आप को संवार कर रखती हो, यह तो कोई जहीन औरत ही कर सकती है.
अच्छा जी, तो मैं आपको संवरी हुई दिख रही हूँ?” वहीदा के अल्फ़ाज़ से लग रहा था कि वो अपनी और तारीफ सुनने के मूड में थी.
क्यों नहीं? तुम्हे युसूफ ने नहीं बताया कि तुम्हारा लिबास का चुनाव कितना उम्दा है? उसे पहनने का सलीका कितना नफीस है? तुम्हारे बाल और तुम्हारे नख-शिख हमेशा संवरे रहते हैं! तुम्हे देख कर तो मुझे युसूफ पर रश्क होता है!मैंने वहीदा की तारीफ करने के साथ-साथ युसूफ को भी लपेटे में ले लिया था. मुझे मालूम था कि शादी के इतने अरसे बाद कोई शौहर अपनी बीवी की ऐसे तारीफ नहीं करता है.
वहीदा थोड़े रंज से बोली, “उनके पास कहाँ वक़्त है ये सब देखने का? वे तो हमेशा अपने कारोबार में मसरूफ रहते हैं.
इसका मतलब था कि मेरे कहने का असर हुआ था. वहीदा अपने शौहर की जानिब अपनी नाराज़गी को छुपा नहीं पाई थी. मुझे लगा कि मुझे अपना रद्दे-अमल जारी रखना चाहिये. साथ ही मुझे लगा कि वहीदा ने कारोबार का ज़िक्र कर के क़र्ज़ वाले मसले की तरफ भी इशारा कर दिया है.
मुझे तो लगता है कि युसूफ न तो अपने कारोबार को ठीक तरह संभल पा रहा है और न अपनी बीवी को,” अब मैंने मुद्दे पर आने का फैसला कर लिया था. और वो कारोबार में ऐसा मसरूफ भी नहीं है कि अपनी बीवी पर ध्यान न दे पाए. उसकी जगह मैं होता तो ...मैंने जानबूझ कर अपनी बात अधूरी छोड़ दी.
आपको उनके कारोबार के बारे में क्या मालूम?” वहीदा ने थोड़ी हैरत दिखाते हुए पूछा.
अब मुझे शक हुआ कि युसूफ ने अपनी कारोबारी मुश्किलात और अपने क़र्ज़ के बारे में वहीदा को बताया था या नहीं! मैं तो सोच रहा था कि मुझे उसका खुला निमंत्रण क़र्ज़ के कारण ही मिला था. यह भी मुमकिन था कि वो जानबूझ कर अनजान बन रही हो. अब मुझे क्या करना चाहिये? मैंने तय किया कि कारण कुछ भी हो, मुझे आज मौका मिला है तो मुझे पीछे नहीं हटना चाहिए. वहीदा ने अपनी बात को आगे बढाया, “और उनकी जगह आप होते तो क्या करते?”
पहली बात तो यह है कि मैंने अपने कारोबार के लिए जितने कारिंदे रख रखे हैं, उनसे मैं पूरा काम करवाता हूँ. मैं उन्हें जरूरी हिदायतें दे देता हूं और फिर कारोबार संभालने की जिम्मेदारी उनकी होती है. इस तरह से मेरा काफी वक़्त बच जाता है. वक़्त बचने के कारण ही मैं यहाँ आ पाया हूँ. और हां, अगर युसूफ की जगह मैं होता तो इस बचे हुए वक़्त का इस्तेमाल मैं अपनी बेग़म के हुस्न की इबादत करने में करता.अपनी बात ख़त्म होते ही मैंने वहीदा को अपनी बांह के घेरे में लिया और उसे अपनी तरफ खींच लिया.
एहसान साहब, छोडिये मुझे.वहीदा ने कहा. उसकी आवाज से अचरज तो झलक रहा था लेकिन गुस्सा या नाराज़गी नहीं. उसने अपने आप को छुड़ाने की कोशिश भी नहीं की. मुझे लगा कि उसका विरोध सिर्फ दिखाने के लिए है. मैंने उसे मजबूती से अपने शरीर से सटा लिया. उसके गुदाज़ जिस्म का स्पर्श मुझे रोमांचित कर रहा था. उसके बदन से निकलने वाली खुशबू मुझे मदहोश कर रही थी. वहीदा ने रस्मी तरीके से कहा, “ये क्या कर रहे हैं आप?”
मैं अपनी बेग़म के हुस्न की इबादत कर रहा हूं,” मैंने चापलूसी से कहा. तुम मुझ से इबादत करने का हक़ नहीं छीन सकती.
लेकिन यह क्या तरीका है इबादत करने का?” वहीदा ने कहा. और मैं आपकी नहीं, आपके दोस्त की बेग़म हूँ.
वहीदा के अल्फ़ाज़ जो भी हों, उसकी आवाज में कमजोरी आ गई थी. उसने मेरे से दूर होने की कोई कोशिश नहीं की थी और उसका बदन ढीला पड़ चुका था. मुझे लगा कि उसका विरोध अब नाम मात्र का रह गया है.
मैं तो तुम्हे दिखा रहा हूं कि मैं तुम्हारा शौहर होता तो क्या करता,” मैंने उसे और पास खींच कर कहा. इसके लिए मुझे कुछ देर के लिए तुम्हे अपनी बेग़म समझना होगा. और आज मैं अपनी बेग़म की ख़िदमत पैरों से नहीं बल्कि अपने हाथों से करूंगा.
मेरा एक हाथ वहीदा की कमर के गिर्द था और दूसरे हाथ से मैं उसके कंधे को सहला रहा था. पैरों की बात छेड़ कर मैंने उसे पिछली रात की याद दिला दी थी. और पिछली रात जो हुआ था वो तो उसके शौहर की मौजूदगी में हुआ था. जब उसने अपने शौहर के होते हुए कोई विरोध नहीं किया तो उसका आज का विरोध तो बेमानी था. लेकिन वो इतनी जल्दी हथियार डालने को तैयार नहीं थी. उसने कहा, “एहसान साहब, कल जो हुआ वो सिर्फ एक बेगुनाह छेड़छाड़ थी.
वो बेगुनाह थी तो इसमें कौन सा गुनाह है?” मेरा हाथ वहीदा के कंधे से फिसल कर उसके नंगे बाजू पर आ चुका था. वो बेगुनाह छेड़छाड़ थी तो ये बेगुनाह इबादत है! बस तुम मुझे थोड़ी और इबादत करने का मौका दे दो.
कल की बात अलग थी,” वहीदा ने जवाब दिया. कल मेरे शौहर साथ में थे.
इसीलिए तो तुमने मुझे कहा था कि मैं कभी भी दिन में यहाँ आ सकता हूं,” मैंने सोचा कि अब शर्म-ओ-लिहाज छोड़ने का वक़्त आ गया है. तुम्हे पता था कि दिन में तुम्हारे शौहर यहाँ नहीं होंगे. क्या तुम मुझ से अकेले में नहीं मिलना चाहती थीं?”
अब वहीदा के लिए जवाब देना मुश्किल था. फिर भी उसने कोशिश की, “हां, लेकिन मेरा मकसद ...
मैंने उसकी बात काटते हुए कहा, “तुम्हारा और मेरा मकसद एक ही है. तुम्हारा शौहर तुम्हारी अहमियत समझे या न समझे पर मैं समझता हूं. तुम्हारा हुस्न बेशक इबादत के काबिल है. तुमने मुझे अकेले में यहाँ आने के लिए कह कर बहुत हिम्मत की है. अब थोड़ी हिम्मत और करो. मुझे अपनी इबादत करने का मौका दे दो.
मुझे लगा कि मैंने बहुत सधे हुए अल्फाज़ में अपनी बात कही थी. उसका असर भी देखने को मिला. वहीदा न तो कल रात जो हुआ उससे इंकार कर सकती थी और न ही इस बात से मुकर सकती थी कि उसने मुझे दिन में आने के लिए कहा था. उसने धीमी आवाज में कहा, “एहसान साहब, आप सचमुच ऐसा समझते हैं? कहीं आप मुझे बना तो नहीं रहे हैं?”
मेरी नज़र उसके मम्मों पर थी जो उसकी कमीज़ के महीन कपडे से झाँक रहे थे. वहीदा ने जब देखा कि मेरी नज़र कहाँ थी तो उसने शर्मा कर अपनी गर्दन झुका ली. मैं समझ गया कि उसने मेरे सामने समर्पण कर दिया है. मैंने कहा, “मैं क्या समझता हूं यह मैं बोल कर नहीं बल्कि कर के दिखाऊंगा.
मैंने वहीदा का एक हाथ अपने हाथ में लिया और उसे उठा कर अपने होंठ उस पर रख दिये. जैसे ही मेरे होंठों ने उसके हाथ को छुआ, वो सिहर उठी. उसका जिस्म मेरे जिस्म से सट गया. उसके मम्मे मेरे सीने से लग गए. मैं उसके नर्म हाथ को चूमने लगा. मेरा मुंह रफ्ता-रफ्ता उसकी बांह और कंधे पर फिसलते हुए उसकी सुराहीदार गर्दन पर पहुँच गया. मेरी जीभ उसकी गर्दन पर फिसल रही थी तो मेरा हाथ उसकी कमर पर. मुझे अपनी खुशकिस्मती पर यकीन नहीं हो रहा था. जिस वहीदा को हासिल करने के सपने मैं सालों से देख रहा था वो आज मेरे हाथों में कठपुतली बनी हुई थी. मेरे होंठ उसके गालों पर पहुँच गए. उसके नर्म और रेशमी गालों की लज्जत नाकाबिले-बयां थी. मेरे होंठ उसके एक गाल का जायजा ले कर उसके गले के रास्ते दुसरे गाल पर पहुँच गए. एक गाल से दूसरे गाल का सफ़र चलता रहा और साथ ही मेरा हाथ उसकी कमर से उसके सीने पर पहुँच गया.
जैसे ही मेरी मुट्ठी वहीदा के मम्मे पर भिंची, उसका जिस्म तड़प उठा. उसकी आँखें बरबस मेरी आँखों से मिलीं. उसका चेहरा मेरे चेहरे के सामने था. मैने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये. मैने अपने होंठों से उसके होंठ खोलते हुए उसका निचला होंठ अपने होंठों के बीच दबाया और उसका रस पीने लगा. अब वहीदा की शर्म जा चुकी थी. उसकी गर्म साँसें मेरे चेहरे से टकरा रही थीं. उसने अपना मुंह खोल कर अपने होंठ मेरे होंठों से चिपका दिए. जैसे ही मेरी जीभ उसके मुंह में पहुंची, उसने उसका स्वागत अपनी जीभ से किया. जीभ से जीभ का मिलन जितना रोमांचकारी मेरे लिए था उतना ही वहीदा के लिए भी था. वो पूरे जोश से मेरी जीभ से अपनी जीभ लड़ा रही थी. मैं भी उसकी जीभ का रसपान करते हुए उसकी चून्ची को मसलने लगा।
मेरा हाथ वहीदा के मम्मे को छोड़ कर उसके मांसल चूतड़ पर पहुँच गया. कुछ देर चूतड़ को सहलाने और दबाने के बाद मेरा हाथ उसकी सलवार के नाड़े पर पहुंचा तो वो थोड़ा कसमसा कर बोली, “नहीं, एहसान साहब.
मैं जैसे ओंधे मुंह ज़मीन पर गिरा. मंजिल मेरी पहुँच में आने के बाद वहीदा मुझे रोक रही थी. मैंने इल्तजा भरी निगाहों से उसकी तरफ देखा. उसने अपनी बात पूरी की, “दरवाजा बंद नहीं है!
उसकी बात सुन कर मेरी नज़र दरवाजे पर गई. डोर क्लोजर से किवाड़ बंद तो हो गया था पर चिटकनी नहीं लगी हुई थी. मुझे अपनी बेवकूफी पर गुस्सा आया कि किवाड़ को धकेल कर कोई भी अन्दर आ सकता था. मैं चिटकनी लगाने के लिए उठा पर वहीदा मेरे से पहले दरवाजे तक पहुँच गई. जैसे ही वो चिटकनी लगा कर पलटी, मैंने उसे अपनी बाँहों में भींच लिया. मैने उसे दरवाजे से सटा कर उसकी दोनों चूचियों पर अपने हाथ रख दिये. मेरे होंठ एक बार फिर उसके होंठों पर काबिज हो गए. साथ ही मैं उसकी दोनों चूचियों को मसलने लगा. अब बिला-शक वहीदा पूरी तरह मेरे काबू में थी और मैं जान गया था कि मेरी बरसों की मुराद पूरी होने वाली है. मैं कभी उसकी चून्चियों को कमीज़ के ऊपर से मसलता था तो कभी अपनी अंगुलियों से उसके निप्पल को मसल देता था. वहीदा चुपचाप आँखें मूंदे अपनी चून्चियां दबवा रही थी. उसका लरजता जिस्म और उसकी तेज़ होती सांसे उसकी उत्तेजना की गवाही दे रही थीं. उसकी जीभ फिर मेरी जीभ से टकरा रही थी. अब अगली पायदान पर चढ़ने का वक़्त आ गया था.
मैं अपना हाथ वहीदा की कमीज़ के ज़िप पर ले गया. वो कुछ बोलती उससे पहले मैंने ज़िप को पूरा नीचे खिसका दिया. ज़िप खुलते ही उसने अपना मुंह मेरे मुंह से अलग किया. उसने मुझे सवालिया नज़रों से देखा. उसकी नज़रों में शर्म भी थी. मैं जानता था कि किसी भी औरत के लिए यह लम्हा बहुत मुश्किल होता है, मेरा मतलब है एक नए मर्द के सामने पहली बार अपने जिस्म को बेपर्दा करना. मैंने वहीदा को बहुत प्यार से कहा, “वहीदा, प्लीज़ मुझे इस नज़ारे से महरूम मत करो. मैंने इस लम्हे का सालों इंतजार किया है. तुम चाहो तो अपनी आँखें बंद कर लो.
वहीदा ने मुझे निराश नहीं किया. उसने मौन स्वीकृति में अपनी आंखें बंद कर लीं. मैंने धीरे से उसके दुपट्टे को उसके जिस्म से अलग किया. मैंने उसकी कमीज़ को नीचे से ऊपर उठाया. जब वह उसके सीने तक पहुँच गई तो उसने अपनी बाँहें ऊपर उठा कर कमीज़ उतारने में मेरा सहयोग किया. अब उसके सीने पर ब्रा के अलावा कुछ नहीं था. काले रंग के महीन कपडे की ब्रा उसके मम्मों की खूबसूरती छुपाने में नाकामयाब साबित हो रही थी. मैंने उसे पीछे घुमा कर उसकी ब्रा के हुक खोले. जब मैंने ब्रा को उसके जिस्म से हटाया तो मैं उसकी नंगी सुडौल पीठ के हुस्न में खो गया. मैं बेसाख्ता अपने हाथ उसकी पीठ पर फिराने लगा. वहीदा ने अपना जिस्म किवाड़ से सटा दिया. मुझे लगा कि मैं उसके बाकी कपडे भी पीछे से उतारूं तो उसे कम झिझक होगी. मैंने अपने हाथ आगे ले जा कर उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया. इस बार उसने कोई एतराज़ नहीं किया. जब मैंने सलवार नीचे खिसकाई तो वहीदा ने अपने पैर उठा कर सलवार उतारने में मेरी मदद की. मेरी नज़र उसकी चड्डी से झांकते मांसल कसे हुए नितम्बों पर अटक गई. मैंने हौले-हौले उसकी चड्डी को नीचे खिसकाया. जैसे ही उसके नंगे नितम्ब नुमाया हुए, मैं बे-अख्तियार हो कर उन्हें चूमने लगा. चड्डी को उसके जिस्म से अलग कर के मैं उसकी नंगी रानों को सहलाने लगा. मेरी जीभ उसके लज़ीज़ चूतड़ों के एक-एक इंच का जायका ले रही थी. चूतड़ों को चाटते-चाटते मैंने अपने कपडे भी उतार दिये.
मैं खड़ा हो गया. वहीदा की पीठ मेरी तरफ थी. मैं पीछे से उसके नंगे जिस्म का दिलकश नज़ारा देख रहा था. उसे पता नहीं था कि उसकी तरह मैं भी मादरजात नंगा था. मैंने उससे चिपक कर अपने हाथ उसकी चून्चियों पर रख दिए. मेरा बेकाबू लंड उसके चूतड़ों के बीच की खाई में धंस गया. शायद लंड के स्पर्श से उसे मेरे नंगेपन का एहसास हुआ. वह उत्तेजना से कांप उठी. मैं भी उसकी नंगी चून्चियों के स्पर्श से पागल सा हो गया था. मैंने अपना मुंह उसके गाल पर रख दिया और उसे मज़े से चूसने लगा. यह मन्ज़र मेरी कल्पना से भी ज्यादा दिलकश था वहीदा का नंगा जिस्म मेरे सामने, उसकी नंगी चून्चियां मेरी मुट्ठियों में और मेरे होंठ उसके लज़ीज़ रुखसार पर. मेरा मुंह उसके गाल से उसके कान पर पहुँच गया और मैं अपनी जीभ से उसके कान को सहलाने लगा. साथ ही मेरा जिस्म अपने आप आगे-पीछे होने लगा. मेरा लंड उसकी जाँघों के अंदरूनी हिस्से से रगड़ने लगा. मेरी हरकतों से वहीदा की गर्मी बढ़ने लगी. उसकी सिसकारियां निकलने लगीं और उसके चूतड़ लरजने लगे.
वहीदा पर गर्मी चढ़ते देख कर मेरी हिम्मत बढ़ गई. अब तक मैंने उसकी चून्चियों का नंगापन सिर्फ अपने हाथों से महसूस किया था. अब मैं उनका नज़ारा पाने को बेक़रार हो गया. मैं उसकी चून्चियों को दबाते हुए बोला, “वहीदा, आज तक मैंने इन्हें सिर्फ सपनों में देखा है. आज तुम मुझे इनका दीदार हक़ीक़त में करवा दो तो मैं तुम्हारा यह एहसान कभी नहीं भूलूंगा.यह कह कर मैंने उसे अपनी तरफ घुमा दिया.
वहीदा ने अपने सीने पर हाथ रखते हुए कहा, “ये क्या कर रहे हैं, एहसान साहब?” शर्म से उसकी गर्दन झुक गई.
प्लीज़ देखने दो, वहीदा.मैंने उसके हाथ हटाते हुए कहा. वहीदा की हालत तो ऐसी थी जैसे वो शर्म से जमीन में गड़ जाना चाहती हो.
मैंने कहा, “इतना हसीन नज़ारा शायद फिर कभी मुझे देखने को नहीं मिलेगा. ... ओह! इतने प्यारे मम्मे! इन्हें देख कर तो मैं अपने होश खो बैठा हूँ!
अब तारीफ का औरत पर असर न हो, यह तो नामुमकिन है. वहीदा भी अपने मम्मों की तारीफ सुन कर यकीनन खुश हुई. वह शर्माते हुए बोली, “यह क्या कह रहे हैं आप! आपको तो झूठी तारीफ करने की आदत है.
झूठी तारीफ करने वाले और होंगे,” मैंने हैरत का दिखावा करते हुए कहा (मेरा इशारा युसूफ की तरफ था जो आम शौहरों की तरह अपनी बीवी की चून्चियों की तारीफ अब शायद ही कभी करता होगा). मैंने आगे कहा, “तुम्हारी कसम, ऐसे हसीन मम्मे मैंने आज तक नहीं देखे. अगर मेरी बात झूठ हो तो अल्लाह मुझे अभी अँधा कर दे!
यह सुनते ही वहीदा ने कहा, “अंधे हों आपके दुश्मन! मेरा मतलब कुछ और था.
तुम्हारा मतलब है कि युसूफ इनकी झूठी तारीफ करता है,” मैंने एक चूंची हाथ में ले कर कहा.
वहीदा ने शर्मा कर मेरे हाथ की तरफ देखा जो उसकी एक चूंची पर काबिज़ हो चुका था. उसने कहा, “उनके पास कहाँ वक़्त है इन्हें देखने के लिए!उसकी आवाज में थोड़ी मायूसी थी पर वो मेरी बातें सुन कर थोड़ी खुश भी लग रही थी.
मैंने सोचा कि अब आगे बढ़ने का वक़्त आ गया है. मैं वहीदा को अपनी एक बांह के घेरे में ले कर दीवान की तरफ बढ़ा. उसने कोई एतराज़ नहीं किया. लगता था कि आगे जो होने वाला था उसके लिए वो दिमागी और जिस्मानी तौर पर तैयार हो चुकी थी. मैंने उसे दीवान पर लिटाया और खुद भी उसके पास लेट गया. मैंने उसकी तरफ करवट ले कर उसे अपनी तरफ घुमाया. हमारे चेहरे एक-दूसरे के सामने थे. वो पहली बार मेरे जिस्म को पूरा नंगा देख रही थी. उसने शरमा कर अपना चेहरा मेरी छाती में छुपा लिया. हमारे जिस्म एक-दूसरे से चिपक गए थे. मैंने उसके चेहरे को उठा कर अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए. जब चुम्बन का आगाज़ हुआ तो वहीदा पीछे नहीं रही. उसने शर्म त्याग कर चुम्बन में मेरा पूरा साथ दिया. एक बार फिर जीभ से जीभ मिली और हम दोनों एक नशीले एहसास में खो गए. मुझे पहली बार पता चला कि होंठों से होंठों और जीभ से जीभ का मिलन इतना मज़ेदार हो सकता है. मज़ा शायद वहीदा को भी आ रहा था. तभी वो पूरी तन्मयता से मेरी जीभ से अपनी जीभ लड़ा रही थी.
मेरा हाथ फिर से वहीदा के जिस्म का जायजा लेने में लगा था. इस बार उसका हाथ भी निष्क्रिय नहीं था. वो भी मेरे जिस्म को टटोल रही थी और सहला रही थी. हमारा चुम्बन ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रहा था. न मैं पीछे हटने को तैयार था और न वहीदा. हमारी जीभ एक-दूसरे के मुंह के हर कोने को टटोल रही थी. कुछ देर बाद वहीदा ने सांस लेने के लिए अपने मुंह को मेरे मुंह से अलग किया तो मेरी नज़र उसके सीने पर गई. ओह, क्या दिलफरेब मम्मे थे! गोरे-गोरे, एकदम अर्ध-गोलाकार और गर्व से उठे हुए! साइज़ में नारंगियों के बराबर और वैसे ही रसीले भी! उनके मध्य में उत्तेजना से तने हुए निप्पल! मेरी नज़र उन पर अटक सी गई. और फिर मेरा मुंह अपने आप एक मम्मे पर पहुँच गया. मेरी जीभ उस पर फिसलने लगी. उसका सफर मम्मे की बाहरी सीमा से शुरू होता था और निप्पल से थोडा पहले ख़त्म हो जाता था. एक मम्मे को नापने के बाद मेरा मुंह दूसरे मम्मे पर पहुँच गया, फिर वही खेल खेलने.
शुरू में तो लगा कि वहीदा भी इस खेल का मज़ा ले रही थी पर फिर वो बेचैन दिखने लगी. उसने मेरे सिर को पकड़ कर अपना निप्पल मेरे मुंह में घुसा दिया. मैंने अपनी जीभ से निप्पल को सहलाना शुरू किया तो उसका शरीर रोमांच से लहराने लगा. मैंने उसके दूसरे मम्मे को अपने हाथ में ले लिया और उसे मसलने और दबाने लगा. इस दोहरे हमले से वहीदा पगला सी गयी. उसका जिस्म बेकाबू हो कर मचलने लगा. उसकी गर्मी बढ़ती देख कर मैं भी जोश में आ गया. मेरे मुंह और हाथ का दबाव बढ़ गया. मैं उसकी चूंची को चूसने के साथ-साथ उसके निप्पल को अपने दांतों के बीच दबाने लगा. मेरी मुट्ठी उसकी दूसरी चूंची पर भिंची हुई थी. दोनों चून्चियों का जी भर कर मज़ा लेने के बाद मैंने नीचे की ज़ानिब रुख किया. मेरा मुंह उसके सुडौल और सपाट पेट और उसके मध्य में स्थित नाभि की सैर करने लगा.
वहीदा अब बुरी तरह मचलने और फुदकने लगी थी. मेरा मुंह उसकी पुष्ट और दिलकश जाँघों पर पहुँच गया. मैं उसकी पूरी जाँघों पर अपनी जीभ फिराने लगा, पहले एक जांघ पर और फिर दूसरी पर. उसकी जाँघों का मनमोहक संधि-स्थल मेरे मुंह को निमंत्रण देता प्रतीत हो रहा था मानो कह रहा हो कि आओ, मेरा भी स्वाद चखो. जाँघों के मध्य एक पतली सी दरार थी, कोई तीन इंच लम्बी और बालरहित. मेरी जीभ जाँघों के मध्य पहुंची तो वहीदा ने उन्हें जोर से भींच लिया. मैंने यत्न कर के उसकी जाँघों को चौड़ा किया और अपनी जीभ उसके तने हुए क्लाइटोरिस पर रख दी. जब मेरी जीभ ने उसे सहलाना और चुभलाना शुरू किया तो वहीदा का शरीर बेतहाशा फुदकने लगा. उसने मेरे सर को पकड़ कर जबरदस्ती ऊपर उठाया और हाँफते हुए बोली, “ये क्या कर रहे हैं, एहसान साहब? प्लीज़, ऐसा मत कीजिये.

क्रमशः
Reply
08-28-2021, 05:54 PM,
#3
RE: फंसाया जाल में
कुछ मिनट बाद वहीदा चाय की ट्रे ले कर आई. ट्रे मेज पर रख कर उसने प्यालों में चाय डाली. जब वो मुझे प्याला देने के लिए आगे झुकी तब मुझे पता चला कि वो कपडे बदल चुकी थी. उसकी कमीज़ के गले से न सिर्फ मुझे उसके दिलकश मम्मे दिख रहे थे बल्कि इस बार तो मुझे उसके निपल की भी झलक दिख रही थी. मम्मे बिलकुल अर्ध-गोलाकार और दूधिया रंग के थे. इस रोमांचक दृश्य ने मेरे दिल की धड़कने बढ़ा दीं. मेरा मन कर रहा था कि मैं उसके मम्मों को कपड़ों की क़ैद से आजाद कर दूं. उधर मेरा लंड भी कपड़ों से बाहर निकलने के लिए मचल रहा था. मेरी नज़रें पता नहीं कब तक उन दिलफरेब मम्मों पर अटकी रहीं. एक सुरीली आवाज ने मुझे खयालों कि दुनिया से बाहर निकला, “एहसान साहब, चाय लीजिये ना!
मैंने चौंक कर वहीदा के चेहरे की तरफ देखा. वो देख चुकी थी कि मेरी नज़रें कहाँ अटकी हुई थीं. जब हमारी नज़रें मिली तो उसके रुखसार शर्म से लाल हो गए. मैंने प्याला लेने के लिए हाथ बढाया तो कल की तरह हमारे हाथ टकराए और मेरा शरीर झनझना उठा. मैंने किसी तरह अपने जज्बात पर काबू पाया और प्याला ले लिया. वहीदा भी अपना प्याला ले कर मेरे पास बैठ गई. उसके जिस्म से उठती महक मुझे मदहोश कर रही थी. यह पहला मौका था जब मैं उसके साथ अकेला था. मैं थोडा घबरा भी रहा था कि मैं उत्तेजनावश कुछ ऐसा न कर बैठूं जिससे वो नाराज़ हो जाए. मेरे हाथ पसीने से इस कदर गीले थे कि मुझे प्याला थामने में मुश्किल हो रही थी. मेरी धडकनों की आवाज तो वहीदा के कानों तक पहुँच रही होगी.
वहीदा ने शायद मेरी दिमागी हालत भांप ली थी. वह बोली, “आप कुछ बोल नहीं रहे हैं. शायद मेरे साथ बोर हो रहे हैं!
मैंने अपने आप को संभाल कर कहा, “बोर और तुम्हारे साथ? मैं तो खुद को खुशकिस्मत समझ रहा हूँ कि मैं तुम्हारे जैसी नफीस और हसीन खातून के पास बैठा हूं.
मुझे यकीन है कि आप हर खातून को यही कहते होंगे,” वहीदा ने शरारत से कहा.
तो मैं तुम्हे चापलूस लगता हूं,” मैंने झूठी नाराज़गी दिखाते हुए कहा. सच तो यह है कि तुम्हारे जैसी खूबसूरत और जहीन औरत मैंने आज तक नहीं देखी. और अब देख रहा हूं तो यह क़ुबूल करने में क्या हर्ज़ है!मुझे फिर लग रहा था कि औरत को पटाने के लिए चापलूसी एक बेहद कारगर हथियार है और मुझे इसका भरपूर इस्तेमाल करना चाहिए.
अच्छा? तो बताइये कि मैं आपको जहीन कैसे लगती हूँ?” वहीदा ने पूछा.
यह सवाल वाकई मुनासिब था. इसका जवाब देना आसान नहीं था पर औरत की तारीफ में कंजूसी करना भी मुनासिब नहीं है. इसलिए मैंने कहा, “जैसे तुमने अपने घर को संवार रखा है और जैसे तुम अपने आप को संवार कर रखती हो, यह तो कोई जहीन औरत ही कर सकती है.
अच्छा जी, तो मैं आपको संवरी हुई दिख रही हूँ?” वहीदा के अल्फ़ाज़ से लग रहा था कि वो अपनी और तारीफ सुनने के मूड में थी.
क्यों नहीं? तुम्हे युसूफ ने नहीं बताया कि तुम्हारा लिबास का चुनाव कितना उम्दा है? उसे पहनने का सलीका कितना नफीस है? तुम्हारे बाल और तुम्हारे नख-शिख हमेशा संवरे रहते हैं! तुम्हे देख कर तो मुझे युसूफ पर रश्क होता है!मैंने वहीदा की तारीफ करने के साथ-साथ युसूफ को भी लपेटे में ले लिया था. मुझे मालूम था कि शादी के इतने अरसे बाद कोई शौहर अपनी बीवी की ऐसे तारीफ नहीं करता है.
वहीदा थोड़े रंज से बोली, “उनके पास कहाँ वक़्त है ये सब देखने का? वे तो हमेशा अपने कारोबार में मसरूफ रहते हैं.
इसका मतलब था कि मेरे कहने का असर हुआ था. वहीदा अपने शौहर की जानिब अपनी नाराज़गी को छुपा नहीं पाई थी. मुझे लगा कि मुझे अपना रद्दे-अमल जारी रखना चाहिये. साथ ही मुझे लगा कि वहीदा ने कारोबार का ज़िक्र कर के क़र्ज़ वाले मसले की तरफ भी इशारा कर दिया है.
मुझे तो लगता है कि युसूफ न तो अपने कारोबार को ठीक तरह संभल पा रहा है और न अपनी बीवी को,” अब मैंने मुद्दे पर आने का फैसला कर लिया था. और वो कारोबार में ऐसा मसरूफ भी नहीं है कि अपनी बीवी पर ध्यान न दे पाए. उसकी जगह मैं होता तो ...मैंने जानबूझ कर अपनी बात अधूरी छोड़ दी.
आपको उनके कारोबार के बारे में क्या मालूम?” वहीदा ने थोड़ी हैरत दिखाते हुए पूछा.
अब मुझे शक हुआ कि युसूफ ने अपनी कारोबारी मुश्किलात और अपने क़र्ज़ के बारे में वहीदा को बताया था या नहीं! मैं तो सोच रहा था कि मुझे उसका खुला निमंत्रण क़र्ज़ के कारण ही मिला था. यह भी मुमकिन था कि वो जानबूझ कर अनजान बन रही हो. अब मुझे क्या करना चाहिये? मैंने तय किया कि कारण कुछ भी हो, मुझे आज मौका मिला है तो मुझे पीछे नहीं हटना चाहिए. वहीदा ने अपनी बात को आगे बढाया, “और उनकी जगह आप होते तो क्या करते?”
पहली बात तो यह है कि मैंने अपने कारोबार के लिए जितने कारिंदे रख रखे हैं, उनसे मैं पूरा काम करवाता हूँ. मैं उन्हें जरूरी हिदायतें दे देता हूं और फिर कारोबार संभालने की जिम्मेदारी उनकी होती है. इस तरह से मेरा काफी वक़्त बच जाता है. वक़्त बचने के कारण ही मैं यहाँ आ पाया हूँ. और हां, अगर युसूफ की जगह मैं होता तो इस बचे हुए वक़्त का इस्तेमाल मैं अपनी बेग़म के हुस्न की इबादत करने में करता.अपनी बात ख़त्म होते ही मैंने वहीदा को अपनी बांह के घेरे में लिया और उसे अपनी तरफ खींच लिया.
एहसान साहब, छोडिये मुझे.वहीदा ने कहा. उसकी आवाज से अचरज तो झलक रहा था लेकिन गुस्सा या नाराज़गी नहीं. उसने अपने आप को छुड़ाने की कोशिश भी नहीं की. मुझे लगा कि उसका विरोध सिर्फ दिखाने के लिए है. मैंने उसे मजबूती से अपने शरीर से सटा लिया. उसके गुदाज़ जिस्म का स्पर्श मुझे रोमांचित कर रहा था. उसके बदन से निकलने वाली खुशबू मुझे मदहोश कर रही थी. वहीदा ने रस्मी तरीके से कहा, “ये क्या कर रहे हैं आप?”
मैं अपनी बेग़म के हुस्न की इबादत कर रहा हूं,” मैंने चापलूसी से कहा. तुम मुझ से इबादत करने का हक़ नहीं छीन सकती.
लेकिन यह क्या तरीका है इबादत करने का?” वहीदा ने कहा. और मैं आपकी नहीं, आपके दोस्त की बेग़म हूँ.
वहीदा के अल्फ़ाज़ जो भी हों, उसकी आवाज में कमजोरी आ गई थी. उसने मेरे से दूर होने की कोई कोशिश नहीं की थी और उसका बदन ढीला पड़ चुका था. मुझे लगा कि उसका विरोध अब नाम मात्र का रह गया है.
मैं तो तुम्हे दिखा रहा हूं कि मैं तुम्हारा शौहर होता तो क्या करता,” मैंने उसे और पास खींच कर कहा. इसके लिए मुझे कुछ देर के लिए तुम्हे अपनी बेग़म समझना होगा. और आज मैं अपनी बेग़म की ख़िदमत पैरों से नहीं बल्कि अपने हाथों से करूंगा.
मेरा एक हाथ वहीदा की कमर के गिर्द था और दूसरे हाथ से मैं उसके कंधे को सहला रहा था. पैरों की बात छेड़ कर मैंने उसे पिछली रात की याद दिला दी थी. और पिछली रात जो हुआ था वो तो उसके शौहर की मौजूदगी में हुआ था. जब उसने अपने शौहर के होते हुए कोई विरोध नहीं किया तो उसका आज का विरोध तो बेमानी था. लेकिन वो इतनी जल्दी हथियार डालने को तैयार नहीं थी. उसने कहा, “एहसान साहब, कल जो हुआ वो सिर्फ एक बेगुनाह छेड़छाड़ थी.
वो बेगुनाह थी तो इसमें कौन सा गुनाह है?” मेरा हाथ वहीदा के कंधे से फिसल कर उसके नंगे बाजू पर आ चुका था. वो बेगुनाह छेड़छाड़ थी तो ये बेगुनाह इबादत है! बस तुम मुझे थोड़ी और इबादत करने का मौका दे दो.
कल की बात अलग थी,” वहीदा ने जवाब दिया. कल मेरे शौहर साथ में थे.
इसीलिए तो तुमने मुझे कहा था कि मैं कभी भी दिन में यहाँ आ सकता हूं,” मैंने सोचा कि अब शर्म-ओ-लिहाज छोड़ने का वक़्त आ गया है. तुम्हे पता था कि दिन में तुम्हारे शौहर यहाँ नहीं होंगे. क्या तुम मुझ से अकेले में नहीं मिलना चाहती थीं?”
अब वहीदा के लिए जवाब देना मुश्किल था. फिर भी उसने कोशिश की, “हां, लेकिन मेरा मकसद ...
मैंने उसकी बात काटते हुए कहा, “तुम्हारा और मेरा मकसद एक ही है. तुम्हारा शौहर तुम्हारी अहमियत समझे या न समझे पर मैं समझता हूं. तुम्हारा हुस्न बेशक इबादत के काबिल है. तुमने मुझे अकेले में यहाँ आने के लिए कह कर बहुत हिम्मत की है. अब थोड़ी हिम्मत और करो. मुझे अपनी इबादत करने का मौका दे दो.
मुझे लगा कि मैंने बहुत सधे हुए अल्फाज़ में अपनी बात कही थी. उसका असर भी देखने को मिला. वहीदा न तो कल रात जो हुआ उससे इंकार कर सकती थी और न ही इस बात से मुकर सकती थी कि उसने मुझे दिन में आने के लिए कहा था. उसने धीमी आवाज में कहा, “एहसान साहब, आप सचमुच ऐसा समझते हैं? कहीं आप मुझे बना तो नहीं रहे हैं?”
मेरी नज़र उसके मम्मों पर थी जो उसकी कमीज़ के महीन कपडे से झाँक रहे थे. वहीदा ने जब देखा कि मेरी नज़र कहाँ थी तो उसने शर्मा कर अपनी गर्दन झुका ली. मैं समझ गया कि उसने मेरे सामने समर्पण कर दिया है. मैंने कहा, “मैं क्या समझता हूं यह मैं बोल कर नहीं बल्कि कर के दिखाऊंगा.
मैंने वहीदा का एक हाथ अपने हाथ में लिया और उसे उठा कर अपने होंठ उस पर रख दिये. जैसे ही मेरे होंठों ने उसके हाथ को छुआ, वो सिहर उठी. उसका जिस्म मेरे जिस्म से सट गया. उसके मम्मे मेरे सीने से लग गए. मैं उसके नर्म हाथ को चूमने लगा. मेरा मुंह रफ्ता-रफ्ता उसकी बांह और कंधे पर फिसलते हुए उसकी सुराहीदार गर्दन पर पहुँच गया. मेरी जीभ उसकी गर्दन पर फिसल रही थी तो मेरा हाथ उसकी कमर पर. मुझे अपनी खुशकिस्मती पर यकीन नहीं हो रहा था. जिस वहीदा को हासिल करने के सपने मैं सालों से देख रहा था वो आज मेरे हाथों में कठपुतली बनी हुई थी. मेरे होंठ उसके गालों पर पहुँच गए. उसके नर्म और रेशमी गालों की लज्जत नाकाबिले-बयां थी. मेरे होंठ उसके एक गाल का जायजा ले कर उसके गले के रास्ते दुसरे गाल पर पहुँच गए. एक गाल से दूसरे गाल का सफ़र चलता रहा और साथ ही मेरा हाथ उसकी कमर से उसके सीने पर पहुँच गया.
जैसे ही मेरी मुट्ठी वहीदा के मम्मे पर भिंची, उसका जिस्म तड़प उठा. उसकी आँखें बरबस मेरी आँखों से मिलीं. उसका चेहरा मेरे चेहरे के सामने था. मैने अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिये. मैने अपने होंठों से उसके होंठ खोलते हुए उसका निचला होंठ अपने होंठों के बीच दबाया और उसका रस पीने लगा. अब वहीदा की शर्म जा चुकी थी. उसकी गर्म साँसें मेरे चेहरे से टकरा रही थीं. उसने अपना मुंह खोल कर अपने होंठ मेरे होंठों से चिपका दिए. जैसे ही मेरी जीभ उसके मुंह में पहुंची, उसने उसका स्वागत अपनी जीभ से किया. जीभ से जीभ का मिलन जितना रोमांचकारी मेरे लिए था उतना ही वहीदा के लिए भी था. वो पूरे जोश से मेरी जीभ से अपनी जीभ लड़ा रही थी. मैं भी उसकी जीभ का रसपान करते हुए उसकी चून्ची को मसलने लगा।
मेरा हाथ वहीदा के मम्मे को छोड़ कर उसके मांसल चूतड़ पर पहुँच गया. कुछ देर चूतड़ को सहलाने और दबाने के बाद मेरा हाथ उसकी सलवार के नाड़े पर पहुंचा तो वो थोड़ा कसमसा कर बोली, “नहीं, एहसान साहब.
मैं जैसे ओंधे मुंह ज़मीन पर गिरा. मंजिल मेरी पहुँच में आने के बाद वहीदा मुझे रोक रही थी. मैंने इल्तजा भरी निगाहों से उसकी तरफ देखा. उसने अपनी बात पूरी की, “दरवाजा बंद नहीं है!
उसकी बात सुन कर मेरी नज़र दरवाजे पर गई. डोर क्लोजर से किवाड़ बंद तो हो गया था पर चिटकनी नहीं लगी हुई थी. मुझे अपनी बेवकूफी पर गुस्सा आया कि किवाड़ को धकेल कर कोई भी अन्दर आ सकता था. मैं चिटकनी लगाने के लिए उठा पर वहीदा मेरे से पहले दरवाजे तक पहुँच गई. जैसे ही वो चिटकनी लगा कर पलटी, मैंने उसे अपनी बाँहों में भींच लिया. मैने उसे दरवाजे से सटा कर उसकी दोनों चूचियों पर अपने हाथ रख दिये. मेरे होंठ एक बार फिर उसके होंठों पर काबिज हो गए. साथ ही मैं उसकी दोनों चूचियों को मसलने लगा. अब बिला-शक वहीदा पूरी तरह मेरे काबू में थी और मैं जान गया था कि मेरी बरसों की मुराद पूरी होने वाली है. मैं कभी उसकी चून्चियों को कमीज़ के ऊपर से मसलता था तो कभी अपनी अंगुलियों से उसके निप्पल को मसल देता था. वहीदा चुपचाप आँखें मूंदे अपनी चून्चियां दबवा रही थी. उसका लरजता जिस्म और उसकी तेज़ होती सांसे उसकी उत्तेजना की गवाही दे रही थीं. उसकी जीभ फिर मेरी जीभ से टकरा रही थी. अब अगली पायदान पर चढ़ने का वक़्त आ गया था.
मैं अपना हाथ वहीदा की कमीज़ के ज़िप पर ले गया. वो कुछ बोलती उससे पहले मैंने ज़िप को पूरा नीचे खिसका दिया. ज़िप खुलते ही उसने अपना मुंह मेरे मुंह से अलग किया. उसने मुझे सवालिया नज़रों से देखा. उसकी नज़रों में शर्म भी थी. मैं जानता था कि किसी भी औरत के लिए यह लम्हा बहुत मुश्किल होता है, मेरा मतलब है एक नए मर्द के सामने पहली बार अपने जिस्म को बेपर्दा करना. मैंने वहीदा को बहुत प्यार से कहा, “वहीदा, प्लीज़ मुझे इस नज़ारे से महरूम मत करो. मैंने इस लम्हे का सालों इंतजार किया है. तुम चाहो तो अपनी आँखें बंद कर लो.
वहीदा ने मुझे निराश नहीं किया. उसने मौन स्वीकृति में अपनी आंखें बंद कर लीं. मैंने धीरे से उसके दुपट्टे को उसके जिस्म से अलग किया. मैंने उसकी कमीज़ को नीचे से ऊपर उठाया. जब वह उसके सीने तक पहुँच गई तो उसने अपनी बाँहें ऊपर उठा कर कमीज़ उतारने में मेरा सहयोग किया. अब उसके सीने पर ब्रा के अलावा कुछ नहीं था. काले रंग के महीन कपडे की ब्रा उसके मम्मों की खूबसूरती छुपाने में नाकामयाब साबित हो रही थी. मैंने उसे पीछे घुमा कर उसकी ब्रा के हुक खोले. जब मैंने ब्रा को उसके जिस्म से हटाया तो मैं उसकी नंगी सुडौल पीठ के हुस्न में खो गया. मैं बेसाख्ता अपने हाथ उसकी पीठ पर फिराने लगा. वहीदा ने अपना जिस्म किवाड़ से सटा दिया. मुझे लगा कि मैं उसके बाकी कपडे भी पीछे से उतारूं तो उसे कम झिझक होगी. मैंने अपने हाथ आगे ले जा कर उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया. इस बार उसने कोई एतराज़ नहीं किया. जब मैंने सलवार नीचे खिसकाई तो वहीदा ने अपने पैर उठा कर सलवार उतारने में मेरी मदद की. मेरी नज़र उसकी चड्डी से झांकते मांसल कसे हुए नितम्बों पर अटक गई. मैंने हौले-हौले उसकी चड्डी को नीचे खिसकाया. जैसे ही उसके नंगे नितम्ब नुमाया हुए, मैं बे-अख्तियार हो कर उन्हें चूमने लगा. चड्डी को उसके जिस्म से अलग कर के मैं उसकी नंगी रानों को सहलाने लगा. मेरी जीभ उसके लज़ीज़ चूतड़ों के एक-एक इंच का जायका ले रही थी. चूतड़ों को चाटते-चाटते मैंने अपने कपडे भी उतार दिये.
मैं खड़ा हो गया. वहीदा की पीठ मेरी तरफ थी. मैं पीछे से उसके नंगे जिस्म का दिलकश नज़ारा देख रहा था. उसे पता नहीं था कि उसकी तरह मैं भी मादरजात नंगा था. मैंने उससे चिपक कर अपने हाथ उसकी चून्चियों पर रख दिए. मेरा बेकाबू लंड उसके चूतड़ों के बीच की खाई में धंस गया. शायद लंड के स्पर्श से उसे मेरे नंगेपन का एहसास हुआ. वह उत्तेजना से कांप उठी. मैं भी उसकी नंगी चून्चियों के स्पर्श से पागल सा हो गया था. मैंने अपना मुंह उसके गाल पर रख दिया और उसे मज़े से चूसने लगा. यह मन्ज़र मेरी कल्पना से भी ज्यादा दिलकश था वहीदा का नंगा जिस्म मेरे सामने, उसकी नंगी चून्चियां मेरी मुट्ठियों में और मेरे होंठ उसके लज़ीज़ रुखसार पर. मेरा मुंह उसके गाल से उसके कान पर पहुँच गया और मैं अपनी जीभ से उसके कान को सहलाने लगा. साथ ही मेरा जिस्म अपने आप आगे-पीछे होने लगा. मेरा लंड उसकी जाँघों के अंदरूनी हिस्से से रगड़ने लगा. मेरी हरकतों से वहीदा की गर्मी बढ़ने लगी. उसकी सिसकारियां निकलने लगीं और उसके चूतड़ लरजने लगे.
वहीदा पर गर्मी चढ़ते देख कर मेरी हिम्मत बढ़ गई. अब तक मैंने उसकी चून्चियों का नंगापन सिर्फ अपने हाथों से महसूस किया था. अब मैं उनका नज़ारा पाने को बेक़रार हो गया. मैं उसकी चून्चियों को दबाते हुए बोला, “वहीदा, आज तक मैंने इन्हें सिर्फ सपनों में देखा है. आज तुम मुझे इनका दीदार हक़ीक़त में करवा दो तो मैं तुम्हारा यह एहसान कभी नहीं भूलूंगा.यह कह कर मैंने उसे अपनी तरफ घुमा दिया.
वहीदा ने अपने सीने पर हाथ रखते हुए कहा, “ये क्या कर रहे हैं, एहसान साहब?” शर्म से उसकी गर्दन झुक गई.
प्लीज़ देखने दो, वहीदा.मैंने उसके हाथ हटाते हुए कहा. वहीदा की हालत तो ऐसी थी जैसे वो शर्म से जमीन में गड़ जाना चाहती हो.
मैंने कहा, “इतना हसीन नज़ारा शायद फिर कभी मुझे देखने को नहीं मिलेगा. ... ओह! इतने प्यारे मम्मे! इन्हें देख कर तो मैं अपने होश खो बैठा हूँ!
अब तारीफ का औरत पर असर न हो, यह तो नामुमकिन है. वहीदा भी अपने मम्मों की तारीफ सुन कर यकीनन खुश हुई. वह शर्माते हुए बोली, “यह क्या कह रहे हैं आप! आपको तो झूठी तारीफ करने की आदत है.
झूठी तारीफ करने वाले और होंगे,” मैंने हैरत का दिखावा करते हुए कहा (मेरा इशारा युसूफ की तरफ था जो आम शौहरों की तरह अपनी बीवी की चून्चियों की तारीफ अब शायद ही कभी करता होगा). मैंने आगे कहा, “तुम्हारी कसम, ऐसे हसीन मम्मे मैंने आज तक नहीं देखे. अगर मेरी बात झूठ हो तो अल्लाह मुझे अभी अँधा कर दे!
यह सुनते ही वहीदा ने कहा, “अंधे हों आपके दुश्मन! मेरा मतलब कुछ और था.
तुम्हारा मतलब है कि युसूफ इनकी झूठी तारीफ करता है,” मैंने एक चूंची हाथ में ले कर कहा.
वहीदा ने शर्मा कर मेरे हाथ की तरफ देखा जो उसकी एक चूंची पर काबिज़ हो चुका था. उसने कहा, “उनके पास कहाँ वक़्त है इन्हें देखने के लिए!उसकी आवाज में थोड़ी मायूसी थी पर वो मेरी बातें सुन कर थोड़ी खुश भी लग रही थी.
मैंने सोचा कि अब आगे बढ़ने का वक़्त आ गया है. मैं वहीदा को अपनी एक बांह के घेरे में ले कर दीवान की तरफ बढ़ा. उसने कोई एतराज़ नहीं किया. लगता था कि आगे जो होने वाला था उसके लिए वो दिमागी और जिस्मानी तौर पर तैयार हो चुकी थी. मैंने उसे दीवान पर लिटाया और खुद भी उसके पास लेट गया. मैंने उसकी तरफ करवट ले कर उसे अपनी तरफ घुमाया. हमारे चेहरे एक-दूसरे के सामने थे. वो पहली बार मेरे जिस्म को पूरा नंगा देख रही थी. उसने शरमा कर अपना चेहरा मेरी छाती में छुपा लिया. हमारे जिस्म एक-दूसरे से चिपक गए थे. मैंने उसके चेहरे को उठा कर अपने होंठ उसके होंठों पर रख दिए. जब चुम्बन का आगाज़ हुआ तो वहीदा पीछे नहीं रही. उसने शर्म त्याग कर चुम्बन में मेरा पूरा साथ दिया. एक बार फिर जीभ से जीभ मिली और हम दोनों एक नशीले एहसास में खो गए. मुझे पहली बार पता चला कि होंठों से होंठों और जीभ से जीभ का मिलन इतना मज़ेदार हो सकता है. मज़ा शायद वहीदा को भी आ रहा था. तभी वो पूरी तन्मयता से मेरी जीभ से अपनी जीभ लड़ा रही थी.
मेरा हाथ फिर से वहीदा के जिस्म का जायजा लेने में लगा था. इस बार उसका हाथ भी निष्क्रिय नहीं था. वो भी मेरे जिस्म को टटोल रही थी और सहला रही थी. हमारा चुम्बन ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रहा था. न मैं पीछे हटने को तैयार था और न वहीदा. हमारी जीभ एक-दूसरे के मुंह के हर कोने को टटोल रही थी. कुछ देर बाद वहीदा ने सांस लेने के लिए अपने मुंह को मेरे मुंह से अलग किया तो मेरी नज़र उसके सीने पर गई. ओह, क्या दिलफरेब मम्मे थे! गोरे-गोरे, एकदम अर्ध-गोलाकार और गर्व से उठे हुए! साइज़ में नारंगियों के बराबर और वैसे ही रसीले भी! उनके मध्य में उत्तेजना से तने हुए निप्पल! मेरी नज़र उन पर अटक सी गई. और फिर मेरा मुंह अपने आप एक मम्मे पर पहुँच गया. मेरी जीभ उस पर फिसलने लगी. उसका सफर मम्मे की बाहरी सीमा से शुरू होता था और निप्पल से थोडा पहले ख़त्म हो जाता था. एक मम्मे को नापने के बाद मेरा मुंह दूसरे मम्मे पर पहुँच गया, फिर वही खेल खेलने.
शुरू में तो लगा कि वहीदा भी इस खेल का मज़ा ले रही थी पर फिर वो बेचैन दिखने लगी. उसने मेरे सिर को पकड़ कर अपना निप्पल मेरे मुंह में घुसा दिया. मैंने अपनी जीभ से निप्पल को सहलाना शुरू किया तो उसका शरीर रोमांच से लहराने लगा. मैंने उसके दूसरे मम्मे को अपने हाथ में ले लिया और उसे मसलने और दबाने लगा. इस दोहरे हमले से वहीदा पगला सी गयी. उसका जिस्म बेकाबू हो कर मचलने लगा. उसकी गर्मी बढ़ती देख कर मैं भी जोश में आ गया. मेरे मुंह और हाथ का दबाव बढ़ गया. मैं उसकी चूंची को चूसने के साथ-साथ उसके निप्पल को अपने दांतों के बीच दबाने लगा. मेरी मुट्ठी उसकी दूसरी चूंची पर भिंची हुई थी. दोनों चून्चियों का जी भर कर मज़ा लेने के बाद मैंने नीचे की ज़ानिब रुख किया. मेरा मुंह उसके सुडौल और सपाट पेट और उसके मध्य में स्थित नाभि की सैर करने लगा.
वहीदा अब बुरी तरह मचलने और फुदकने लगी थी. मेरा मुंह उसकी पुष्ट और दिलकश जाँघों पर पहुँच गया. मैं उसकी पूरी जाँघों पर अपनी जीभ फिराने लगा, पहले एक जांघ पर और फिर दूसरी पर. उसकी जाँघों का मनमोहक संधि-स्थल मेरे मुंह को निमंत्रण देता प्रतीत हो रहा था मानो कह रहा हो कि आओ, मेरा भी स्वाद चखो. जाँघों के मध्य एक पतली सी दरार थी, कोई तीन इंच लम्बी और बालरहित. मेरी जीभ जाँघों के मध्य पहुंची तो वहीदा ने उन्हें जोर से भींच लिया. मैंने यत्न कर के उसकी जाँघों को चौड़ा किया और अपनी जीभ उसके तने हुए क्लाइटोरिस पर रख दी. जब मेरी जीभ ने उसे सहलाना और चुभलाना शुरू किया तो वहीदा का शरीर बेतहाशा फुदकने लगा. उसने मेरे सर को पकड़ कर जबरदस्ती ऊपर उठाया और हाँफते हुए बोली, “ये क्या कर रहे हैं, एहसान साहब? प्लीज़, ऐसा मत कीजिये.

क्रमशः
Reply
08-28-2021, 05:57 PM,
#4
RE: फंसाया जाल में
अगली शाम युसूफ मेरे घर आया. ताज्जुब की बात यह थी कि पहली बार वहीदा भी उसके साथ आई थी. उसे देख कर मेरा ख़ुश होना लाजमी था. मैंने गर्मजोशी से उनका स्वागत किया और उन्हें ड्राइंग रूम में बैठाया. तहजीब के तकाजे के मुताबिक मैंने अपनी बेगम को उनसे मिलने के लिए ड्राइंग रूम में बुलाया. कुछ देर हमारे दरमियान इधर-उधर की बातें होती रहीं. फिर मेरी बेगम ने उठते हुए कहा, “आप लोग बैठिये. मैं चाय का इंतजाम करती हूं.
वहीदा ने उठ कर कहा, “मैं भी आपके साथ चलती हूँ. इस बहाने मैं आपका किचन भी देख लूंगी.
इसमें किसी को क्या ऐतराज़ हो सकता था. मेरी बेगम ने कहा, “हां, आइये ना. हम कुछ देर और बातें कर लेंगे.
मुझे लगा कि वहीदा मुझे और युसूफ को अकेला छोड़ना चाहती थी ताकि युसूफ मेरे से क़र्ज़ अदायगी की मियाद बढाने की बात कर सके. मैं भी इसी का इंतजार कर रहा था. मैं एक बार वहीदा को हासिल कर चुका था. अब मुझे ऐसा इंतजाम करना था कि यह सिलसिला आगे भी चलता रहे. इसके लिए मुझे युसूफ पर अपनी पकड़ बनानी थी. जैसे ही हमारी बीवियां अन्दर गईं, युसूफ बोला, “मेरा खयाल है कि हमें क़र्ज़ वाला मामला निपटा देना चाहिए. अब मियाद ख़त्म होने को है. मैंने जो एग्रीमेंट साइन किया था वो यहीं है या तुम्हारे ऑफिस में है?”
यह सुन कर मैं भौंचक्का रह गया. मुझे उम्मीद थी कि युसूफ मियाद बढाने की बात करेगा पर वो तो मियाद ख़त्म होने से पहले ही क़र्ज़ चुकाने की बात कर रहा है. मुझे अपने मंसूबे पर पानी फिरता नज़र आया. मैंने बुझी हुई आवाज में कहा, “एग्रीमेंट तो यहीं है, मेरे स्टडी रूम में. लेकिन क़र्ज़ चुकाने की कोई जल्दी नहीं है. तुम्हे और वक़्त चाहिए तो ...?
जो काम अभी हो सकता है उसमे देर क्यों करें?” युसूफ ने मेरी बात पूरी होने से पहले ही जवाब दिया. चलो, तुम्हारे स्टडी रूम में चलते हैं.
अपनी योजना को नाकामयाब होते देख कर मैं मायूस हो गया था. मैं बेमन से उसे स्टडी रूम में ले गया. मैंने अलमारी से एग्रीमेंट निकाला. वो एक लिफाफे में था. मैं उसे लिफ़ाफे से बाहर निकालता उससे पहले युसूफ बोला, “ओह, मैं तुम से एक बात पूछना भूल गया. तुमने अपने घर में सी.सी.टी.वी. कैमरे लगवा रखे हैं या नहीं?”
एक तो मैं वैसे ही परेशान था, ऊपर से यह सवाल मुझे बड़ा अजीब लगा. मैंने कहा, “सी.सी.टी.वी. कैमरे किसलिए?”
युसुफ ने जवाब दिया, “तुम तो जानते ही हो कि आजकल चोरी-चकारी कितनी आम हो गयी है. हम सिर्फ पुलिस के भरोसे बैठे रहें तो चोर कभी नहीं पकडे जायेंगे. हां, घर में सी.सी.टी.वी. कैमरे लगे हों तो पुलिस चोरों तक पहुँच सकती है. मैंने तो अपने घर में कई जगह कैमरे लगवा रखे हैं.
यह सुन कर मेरे कान खड़े हो गए. यह बात मेरे लिए परेशानी का सबब बन सकती थी. मैंने युसूफ की तरफ देखा. वो आगे बोला, “आज मैं सी.सी.टी.वी. की रिकॉर्डिंग देख रहा था. मैंने जो देखा वो यकीन करने के काबिल नहीं हैं.
स्टडी रूम में मेरा कम्प्यूटर ऑन था. युसूफ ने उसमे एक पैन ड्राइव लगाई और अपना हाथ माउस पर रख दिया. कुछ ही पलों में स्क्रीन पर उसके ड्राइंग रूम के अन्दर का नज़ारा दिखा. ड्राइंग रूम के अन्दर वहीदा और मैं नज़र आ रहे थे. मेरे होंठ वहीदा के होंठों पर थे और मेरा हाथ उसकी चूंची पर. यह देखते ही मेरे होश फाख्ता हो गए. युसूफ ने वीडियो को रोक कर मेरी तरफ देखा और कहा, “तुम तो यकीनन मेरे सच्चे दोस्त निकले. मेरी गैर-मौजूदगी में एक सच्चा दोस्त ही मेरी बीवी की इस तरह खिदमत कर सकता है!
युसूफ की बात सुन कर मुझ पर घड़ों पानी पड़ गया. मेरी बोलती बंद हो गई. मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि मैं क्या कहूं. मैं तो सोच रहा था कि उसने क़र्ज़ की मियाद बढ़वाने के लिए वहीदा का इस्तेमाल किया था (और मुझे उसका इस्तेमाल करने दिया था). लेकिन यहाँ तो मामला उल्टा था. वो तो आज ही क़र्ज़ चुकाने के लिए तैयार था, बिना मियाद बढवाए. इसका मतलब था कि जो भी हुआ वो उसकी जानकारी के बिना हुआ था.
लेकिन वहीदा ने ऐसा क्यों किया? उसने क्यों मुझे अकेले में घर बुलाया? वो क्यों मुझसे चुदने को राज़ी हो गई? मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा था. ... लेकिन जब इंसान किसी मुसीबत में फंस जाता है तो सबसे पहले अपना बचाव करने की कोशिश करता है. मैंने किसी तरह थोड़ी हिम्मत बटोर कर कहा, “जो तुम सोच रहे हो वैसा कुछ नहीं है. मैंने अपनी तरफ से कुछ नहीं किया ... मेरा मतलब है कि ... वहीदा ने खुद अपने आप को मेरे हवाले कर दिया.
वाकई, तुम्हारे जैसे खूबसूरत शहज़ादे को देख कर भला कोई औरत अपने आप को रोक सकती है?” युसूफ ने व्यंग्य से कहा. वहीदा ने जबरदस्ती तुम्हारा हाथ अपने सीने पर रख दिया होगा. उसने जबरदस्ती अपने होंठ तुम्हारे होंठों पर रख दिए होंगे. शायद तुम यह भी कहोगे कि उसने तुम्हारे साथ बलात्कार किया था! क्यों?”
युसूफ ने मुझे बिलकुल बेजुबान कर दिया था. मैं जानता था कि वहीदा ने जो किया और मुझे करने दिया, उसका मेरी शक्ल-सूरत से कोई वास्ता नहीं था. मेरे ख़याल में उसका वास्ता सिर्फ मेरे दिए हुए क़र्ज़ से था पर अब तो मेरा खयाल गलत साबित हो चुका था. मैं बहुत बड़ी मुसीबत में फंस गया था. मेरी समझ में नहीं आ रहा था कि मैं इस मुसीबत से कैसे पार पाऊं. फिर भी मैंने कोशिश की, “मेरा यकीन करो, मैं वहीदा का फायदा नहीं उठाना चाहता था. उसने खुद ही ...
युसूफ ने मेरी बात काट कर कहा, “ठीक है, मेरे सच्चे दोस्त. हम ये रिकॉर्डिंग तुम्हारी प्यारी बेग़म को दिखा देते हैं और फैसला उन्ही पर छोड़ देते हैं. इसे देखने के बाद वो अपने आप को मेरे हवाले कर दें तो तुम्हे कोई एतराज़ नहीं होना चाहिए. और मैं तो उनकी पेशकश को ठुकराने से रहा!
उसके अल्फ़ाज़ मेरे दिल में खंज़र की तरह उतरे. मैंने चीख कर कहा, “नहीं!!! तुम ऐसा नहीं ... मेरा मतलब है ...मैं आगे नहीं बोल पाया. मेरे लिए यह कल्पना करना ही दर्दनाक था कि मेरी बेग़म अपने आप को इस इंसान के हवाले कर देगी. ... लेकिन ये उन्होंने रिकॉर्डिंग देख ली तो वो क्या करेगी, यह खयाल भी बेहद खौफनाक था.
अब युसूफ भी खामोश था और मैं भी. मेरी नज़रें झुकी हुई थीं. मेरा दिमाग तो जैसे सुन्न हो गया था. मुझे किसी भी तरह युसूफ को यह रिकॉर्डिंग अपनी बेग़म दिखाने से रोकना था पर मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं उसे कैसे रोकूं! आखिर युसूफ ने सन्नाटा तोड़ा. वो बोला, “एक रास्ता है. हम इस रिकॉर्डिंग और एग्रीमेंट की अदला-बदली कर सकते हैं. तुम रिकॉर्डिंग को मिटा देना और मैं एग्रीमेंट को फाड़ दूंगा. न रहेगा बांस और न बजेगी बांसुरी.
मैं बेइंतिहा खौफ और बेबसी के आलम में था. युसूफ के अल्फ़ाज़ में मुझे एक उम्मीद की किरण दिखी. उसकी तजबीज मानने के अलावा मुझे और कोई रास्ता नहीं दिख रहा था. मैंने हथियार डालते हुए कहा, “इसकी कोई और कॉपी तो नहीं है?”
एक कॉपी मेरे कम्प्यूटर में है,” युसूफ ने जवाब दिया. लेकिन मैं घर पहुँचते ही उसे मिटा दूंगा. तुम्हे मेरे पर भरोसा करना होगा.
युसूफ पर भरोसा करने के अलावा मेरे पास कोई चारा नहीं था. मैंने एग्रीमेंट उसे दे दिया. उसने उसे अपनी जेब में रखा और पैन ड्राइव मुझे दे दी.
हम चुपचाप ड्राइंग रूम में वापस लौटे. हमारी बीवियां वहां पहले से ही मौजूद थीं, चाय के साथ. अगले दस मिनट मेरे लिए बहुत बोझिल रहे. चाय के दौरान युसूफ, वहीदा और मेरी बेग़म के बीच कुछ आम किस्म की बातें होती रहीं पर मैं न तो कुछ बोला और न ही उनकी कोई बात मेरे जेहन तक पहुंची. चाय ख़त्म होने के बाद जब युसूफ और वहीदा रुखसत हुए, मैं स्टडी रूम में वापस आया. युसूफ और वहीदा स्टडी रूम की खिड़की के पास से गुजर रहे थे. युसूफ कुछ बोलता हुआ जा रहा था. उसके कुछ अल्फ़ाज़ मेरे कान में पड़े, “... कैसे नहीं फंसता हमारे जाल में?”
यह सुन कर मैं दंग रह गया. तो यह उनका जाल था? मैं समझ रहा था कि जाल मेरा है और वहीदा उसमें फंस रही है! पर असली जाल युसूफ और वहीदा ने बिछाया था ... और मैं बेवक़ूफ़ की तरह उसमे फंस गया! वहीदा को एक बार चोदने की कीमत दस लाख रुपये? होगा कोई मेरे जैसा बेवक़ूफ़!!!
 
समाप्त
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Chudai ki khani chudkar khandanChudkar khandan Bhai log aj mai apni story likne ja rh [email protected] 3 4,011 Yesterday, 01:48 PM
Last Post: Burchatu
  Fantasies of a cuckold hubby funlover 17 30,775 09-20-2021, 04:38 PM
Last Post: funlover
  Bhai Behn hawasichoodu 15 3,431 09-15-2021, 12:38 AM
Last Post: hawasichoodu
  Link Exchange ronaldfootman 0 346 09-09-2021, 03:40 AM
Last Post: ronaldfootman
  My Memoirs – 1. Reema George Abhimanyu69 0 768 09-05-2021, 05:15 PM
Last Post: Abhimanyu69
  Rangeela Driver - Part 1 SexKaBhooka 1 1,174 09-03-2021, 09:39 PM
Last Post: SexKaBhooka
  दीदी को चुदवाया Ranu 73 248,288 09-02-2021, 06:22 PM
Last Post: Gandkadeewana
  Virgin gf ko car me choda Rocky_luv_69 0 856 09-01-2021, 01:32 AM
Last Post: Rocky_luv_69
  ठेकेदार का बच्चा rangeeladesi 0 3,893 08-29-2021, 04:50 PM
Last Post: rangeeladesi
  वासना का नशा rangeeladesi 6 3,109 08-28-2021, 06:28 PM
Last Post: rangeeladesi



Users browsing this thread: 1 Guest(s)