Adult kahani पाप पुण्य
09-10-2018, 02:40 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
रिक्की के मुँह से अपने लिए गालियाँ सुनके मोनू फिर से उसके निप्पल चबाते-चबाते चूसने लगा. रिशू से गाँड पे हो रहे लगातार हमले और मोनू से बेरहमी से निप्पल चूसवाने से अब रिक्की भी झड़ने के करीब थी. वो सोफ़ा ज़ोर से पकड़के रिशू को और ज़ोर से गाँड मारने के लिए बोली. अब रिशू भी झड़ने के करीब था.

वो एक हाथ की अँगुली रिक्की की चूत में घुसा के पीछे से रिक्की की गाँड में ज़ोरदार धक्के मारते हुए बोला, “ये ले साली... मादरचोद... अब मैं तेरी गाँड में अपना पानी छोड़ुँगा... तू एकदम लाजवाब छिनाल है साली... मुझे पता है तू कुवारी थी तेरा बदन बहुत टाईट है... बड़ी गज़ब की चीज़ है तू रिक्की... ले मैं आयाआआआआ..... रिक्कीआआआआआ.....”

रिशू अपना पूरा लंड रिक्की की गाँड में जड़ तक घुसा के झड़ने लगा और साथ ही अँगुली से अपनी चूत चुदवाती हुई रिक्की भी झड़ने लगी. मोनू आगे से रिक्की को कसके पकड़ के उसके मम्मे चूस रहा था और पीछे से रिशू रिक्की की गाँड में लंड घुसेड़े झड़ रहा था. रिक्की की चूत ने भी झड़ते हुए अपना पानी छोड़ दिया जिससे रिशू का पूरा हाथ गीला हो गया.

जब सबकी साँसें सामान्य हुईं तो रिशू ने रिक्की की गाँड से अपना लंड निकाला और उसके लंड का पानी रिक्की की गाँड से निकल के रिक्की की जाँघों से नीचे बहने लगा. रिक्की ने खड़ी होके एक अँगड़ाई ली और जा के एक टॉवल लायी और बड़े प्यार से रिशू का लंड साफ़ किया. फिर रिशू ने भी उसी टॉवल से रिक्की की चूत और गाँड भी पोंछी. हम तीनों ने ठंडा पानी पीया और फिर नंगे ज़मीन पे लेट गये.

ये मेरी ज़िन्दगी की एक यादगार चुदाई थी क्योंकि मैंने आज पहली बार एक अनचुदी लड़की को चोदा था पर रिशू के लिए ये और भी बड़ी बात थी की आज उसने अपनी सगी बहन की गांड मार कर उसे हमेशा चोदने का रास्ता खोल लिया था.


Reply
09-10-2018, 02:40 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
फिर रिक्की धीरे से उठी और बाथरूम की तरफ चली गयी. मैं भी उसके पीछे जाने लगा तो रिशू ने मुझे रोक दिया.

रिशू: अरे अभी रहने दे. आज पहली बार चूदी है और वो भी दो दो लंडो से.

मोनू: साले जब रश्मि दीदी को चोदा था तूने पहली बार तब का याद है अब अपनी बहन की बारी आई तो मुझे रोक रहा है.

रिशू: अबे गांडू. रोक नहीं रहा हूँ थोडा धीरज रखने को बोल रहा हूँ. एक बार तो चोद लिया न तूने अब उसे थोडा टाइम दे. रश्मि को पहली बार मैंने अकेले ही चोदा था. रिक्की ने दो लंड लिए है.

तभी घंटी बजी और रिशू ने जाकर देखा तो बाहर कामिनी आंटी खड़ी थी. रिशू ने दरवाजा खोल दिया और आंटी अन्दर आ गयी. हम दोनों को नंगा देख कर आंटी बोली

कामिनी: तो आखिर चोद ही डाला मेरी फूल सी बच्ची को तुम दोनों ने. कहा है रिक्की, दिखाई नहीं दे रही.

मोनू: अरे आंटी बस पूछो मत. मज़ा आ गया. रिक्की बाथरूम में है. अभी ले कर आता हूँ.

रिशू: अबे तो फिर से शुरू हो गया. इतना उतावला क्यों हो रहा है. अब तो हमेशा उसे चोदना ही है.

मोनू: देखो न आंटी. रिशू ने मुझे दुबारा रिक्की को चोदने नहीं दिया.

कामिनी: अरे तो तू एक काम कर अपने घर पर फोन कर के कह दे तू आज रात मेरे घर पर रुकेगा. रात भर आराम से चोदना रिक्की को.

मोनू: सच आंटी पर रिक्की के साथ मैं अकेला ही रहूँगा. ठीक है.

कामिनी: अच्छा बेटा नयी चूत मिली तो मुझे भूल रहा है. ठीक है रिशू मेरे साथ सो जायेगा. तू रिक्की के साथ उसके कमरे में आज रात अकेले ही रहना. सुहागरात जैसी फीलिंग ले लेना.

रिशू: पर मम्मी.

कामिनी: अरे रिशू, रिक्की तो तेरा घर का माल है. कहाँ भागी जा रही है. जब मन करे लंड पेल देना अपनी बहन की चूत में जैसे मेरी चूत में पेल देता है. आज इस मोनू की इच्छा पूरी हो जाने दे. जा मोनू फ़ोन कर दे अपने घर पर.


Reply
09-10-2018, 02:40 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
मैं ख़ुशी ख़ुशी अपने घर फोन मिलाने लगा. उधर से फोन रश्मि दीदी ने उठाया. 

मोनू: दीदी, आज मैं कामिनी आंटी के घर पर रूक रहा हूँ. तुम मम्मी पापा को बता देना.

रश्मि: बड़ा खुश लग रहा है, लगता है ले ली रिक्की की.

मोनू: हा दीदी. एक बार तो पेल चूका हूँ साली को और बाकी कसर रात में पूरी कर दूंगा. इसीलिए रात में यही रुकुंगा. 

रश्मि: पर मैं मम्मी पापा से क्या कहूँ. जब से मयंक के यहाँ से वापस आये है तुझे पूँछ रहे है.

मोनू: अरे कुछ समझा देना न मेरी प्यारी दीदी.

रश्मि: अच्छा. ठीक है. 

मोनू: क्या हुआ मयंक के यहाँ.

रश्मि: क्या होना था. शादी की तारीख तय होनी थी हो गयी. 

ये सुनते ही मुझे कुछ अच्छा नहीं लगा पर क्या करता एक न एक दिन तो दीदी की शादी होनी ही थी. 

मोनू: अच्छा, कब की डेट है.

रश्मि: अगले महीने की २० तारीख. २१ को मेरी सुहागरात होगी मयंक के साथ. और अब तुझे भी रिक्की की चूत मिल गयी है तो तुझे मेरी कमी महसूस नहीं होगी.

मोनू: दीदी तुम्हारी जगह कौन ले सकता है. खैर घर आकर बात करते है.

और मैं फ़ोन काट कर वापस कामिनी आंटी और रिशू के पास आ गया. रिक्की बाथरूम से निकल कर कपडे पहनने अपने रूम में चली गयी थी. कामिनी को देख कर पहले तो वो काफी घबराई थी पर जब आंटी से उससे बात की तो वैसे तो नार्मल हो गयी थी पर आंटी के सामने वो काफी शर्मा रही थी. 

जब रिक्की कपडे पहन कर बाहर आई तो आंटी ने उसे बता दिया था की आज रात मैं उसके साथ रहूँगा. रिक्की ने भी मन में सोचा की आज वो एकदम बाजारू रंडी की तरह मुझसे चुद्वायेगी. रिशू और मैं भी नहाने चले गए और तैयार हो कर हमने थोड़ी देर टीवी देखा तब तक आंटी ने खाना लगा दिया. खाना खा कर आंटी और रिशू कमरे में चले गए पर रिक्की ने मुझसे कहा की तुम १५ मिनट बाद कमरे में आना.


Reply
09-10-2018, 02:40 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
१५ मिनट बाद जब मैं कमरे में गया तो मज़ा आ गया, अंदर रिक्की बहुत ही सैक्सी टॉप-स्कर्ट में तैयार हो कर बैठी थी. रिक्की ने टॉप के उपर के चार बटन खोल कर नीचे से गाँठ बन्धी हुई थी और गज़ब का मेक-अप करा हुआ था. मुझे देख कर रिक्की खड़ी हो गयी और अपने चूत्तड़ हिलाने लगी. मैंने चुपचाप पीछे से जा कर उसकी मचलती हुई चूचियों को पकड़ लिया और रिक्की को घूमा लिया. फिर सीधा कर के हमने एक दूसरे को बाहों में कस लिया और तड़ातड़ एक दूसरे को चूमने और चाटने लगे. रिक्की बहुत ही सैक्सी लग रही थी और अगर वो ऐसे रूप में कहीं सड़क पर चली जाती तो जरूर उसकी चूत का भोंसड़ा बन जाता.

मैंने पीछे से रिक्की की स्कर्ट नीचे खिस्का दी और झुक कर कुत्ते कि तरह उसके चूत्तड़ों में अपना मुँह लगा दिया और चाटने लगा. रिक्की ने काले रंग की नेट की बहुत ही टाईट रेशमी पैंटी पहनी थी जिससे वो उसकी गाँड की दरार में घुस गयी थी और उसके गोरे फूले हुए छोटे-छोटे मस्त चूत्तड़ों को और मादक बना रही थी. 

रिक्की ने मेरी गर्दन में अपनी बाहें डाल कर बोली, “मोनू… मोनू… आज जी भर के अपने दोस्त की बहन को चोद लो!” और मुझे बिस्तर पर बिठाकर मेरी अंडरवियर में तन्नाए हुए लंड पर अपने चूत्तड़ घिसने लगी. मैंने उसकी टॉप के बटन और बंधी हुई गाँठ को खोल कर उतार दिया. रिक्की ने एक मस्त काले रंग की रेशमी ब्रा पहनी थी. एकदम पतले स्ट्रैप थे और ब्रा के कप सिर्फ़ उसके आधे निप्पल और नीचे की गोलाइयाँ छुपाये हुए थे. रेशमी नेट के अंदर से उसकी दूधिया चूचियों की साफ झलक मिल रही थी. मैंने उसे खड़ा होने को कहा और कुर्सी पर टाँगें फैला कर बैठ गया और रिक्की को बोला कि वो अपनी टाँगें मेरी टाँगों के दोनों तरफ करके अपनी पैंटी में कसी हुई चूत मेरे लंड पर रखे और आराम से बैठ जाये. तब तक मैं उसकी कसी हुई मस्त जवानी जम कर चूसना और दबाना चाहता था.

रिक्की बड़े ही कायदे से मेरे लंड के उठान पर बैठ गयी और बहुत हल्के-हल्के ढँग से अपनी पैंटी मेरे लंड से उठी हुई मेरी अंडरवियर पर घिसते हुए मेरी गर्दन में बाहें डाल कर बोली, “मोनू भैया मसल डालो मेरी इन जवानियों को. देखो तो सही कैसे तन कर खड़ी है तुमसे चुस्वाने के लिये.”

मैं भी अपने हाथ उसकी पीठ पर ले गया और उसकी ब्रा के हूक खोल दिये और बड़े प्यार से उसकी चूचियाँ नंगी करी. उसकी चूचिया मेरे सामने तन कर खड़ी हुई थीं और मैंने भी बिना वक्त गँवाये दोनों चूचियों पर अपना मुँह मारना शूरू कर दिया. मैं बहुत ही बेसब्रा हो कर उसकी चूचियाँ मसल और चूस रहा था जिससे उसको थोड़ा सा दर्द हो रहा था. पर फिर भी मेरे सिर को अपनी चूचियों पर दबाते हुए कह रही थी, “भैया आराम से मज़ा लो, इतने उतावले क्यों हो रहे हो. आज तो हमारा हनीमून है. कहीं भागी थोड़ी जा रही हूँ. जम के चूसवाऊँगी और मसलवाऊँगी. इनको इतना मसलो कि कॉलेज में मेरी चूचियाँ सबसे बड़ी हो जायें.”


Reply
09-10-2018, 02:40 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
थोड़ी देर की चूसाई के बाद मैंने कहा, “रिक्की, अब तो आप तैयार हो जा दुबारा मेरा लंड लेने के लिये.”

मैंने उसे अपनी बाहों में उठाया और पलंग पर लिटा दिया. काले रंग की पैंटी से ढका रिक्की का गोरा बदन ऐसा लग रहा था जैसे कोई अपसरा अपने कपड़े उतार के सो रही हो और काला भँवरा उसकी ताज़ी चूत का रस चूस रहा हो. मैं करीब पाँच मिनट तक रिक्की के नंगे बदन की शराब अपनी आँखों से पीता रहा, और फिर बिस्तर पर चढ़ कर मैंने रिक्की की कमर चूसनी चालू किया और चूसते हुए अपना मुँह उसकी पैंटी पर लाया और पैंटी का इलास्टिक अपने दाँतों में दबा कर अपने मुँह से उसकी पैंटी उतारने लगा. 

रिक्की ने भी अपने चूत्तड़ हवा में उठा दिये थे ताकि पैंटी उतारने में परेशानी ना हो. पर उसने इतनी टाइट पैंटी पहनी थी कि मुझे अपने हाथ भी लगाने ही पड़े. पैंटी उतार के मैंने देखा की जो हलके रोयें रिक्की की चूत पर थे अब वो भी उसने साफ़ कर लिए थे. रिक्की चूत चुदने के लिये इतनी बेकरार थी कि चूत से पानी टपक रहा था.

मैंने कहा रिक्की तूने अपनी चूत शेव कर ली मेरी जान. 

रिक्की बोली, “भैया मम्मी ने मेरी चूत को क्रीम से साफ किया है मैंने नहीं." 

मेरा लंड तो रिक्की की चिकनी नंगी मस्ताई हुई, चुदने के लिये तैयार चूत को देख कर ही मेरी अंडरवियर को फाड़ कर बाहर आने के लिये बेकरार था और उछल-कूद मचा रहा था. मैंने अपने दोनों हाथों से अपनी अंडरवियर उतार दी और अपना मुँह मेरे सामने लेटी हुई नशे की बोतल के खज़ाने के मुँह पर लगा दिया. रिक्की तो मस्त हो गयी और मेरा सिर पकड़ कर अपनी चूत पर दबाने लगी. मैं भी चाहता था कि रिक्की थोड़ा पानी और छोड दे ताकि उसकी चूत थोड़ी चिकनी हो जाये. मैंने उसकी चूत का दाना चूसते हुए अपनी जीभ से उसकी चुदाई चालू कर दी और करीब पाँच मिनट बाद ही रिक्की ने मेरा सिर अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया और कस कर अपनी पूरी ताकत से मेरा मुँह अपनी चूत पर दबा लिया और जोश में काँपते हुए चूत्तड़ों के धक्के देती हुई मेरे मुँह में अपना रस देने लगी. मैंने भी मन से उसकी जवान चूत चूसी और चूत के लाल होंठों को अपने होंठों से चूसा.


Reply
09-10-2018, 02:41 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
फिर मैं घूटने के बल रिक्की के सामने बैठ गया और बूरी तरह अकड़ा हुआ अपना लंड उसके सामने कर दिया और रिक्की की गर्दन में हाथ डाल कर उसका मुँह अपने लंड के पास लाया और बोला, “रिक्की, मेरे लंड को अपने मुँह में लेकर अपनी चूत बजाने के लिये तो इनवाइट करो.”

रिक्की ने तपाक से अपना मुँह खोला और मेरा सुपाड़ा अपने होंठों के बीच ले लिया और जीभ फेरने लगी. मेरे लंड पर रिक्की के जीभ फेरने ने वो काम किया जो आग में घी करता है. मुझसे रहा नहीं गया और दोनों हाथों से रिक्की का सर पकड़ कर उसके मुँह में ही मैंने आठ-दस शॉट लगा दिये. लौड़े का तो मारे गुस्से के बूरा हाल था. उसके सामने ऐसी मलाईदार चूत थी और मैं उसकी भूख मिटाने की बजाये चुम्मा चाटी कर रहा था.

अपना लंड रिक्की के मुँह से बाहर निकाल कर के मैंने रिक्की की जाँघों को अपने हाथों से पूरा फैला दिया और एक हाथ से लंड पकड़ कर दूसरे हाथ से रिक्की की चूत के लिप्स खोल कर अपना गुस्साया हुआ लाल सुपड़ा उसकी गुलाबी चूत से सटा दिया और बहुत हल्के-हल्के घिसते हुए बोला, “देख लो मेरी जान. अपने लंड की तेरी चूत से मुलाकात करा रहा हूँ.”

रिक्की को भी अपनी चूत पर लंड घिसाई बहुत अच्छी लग रही थी. वोह सिर्फ़ मस्ती में “ऊँमम ऊँमम” कर सकी. एक दो मिनट बाद मैंने देखा कि रिक्की पर मस्ती पूरी तरह से सवार हो चूकी है तो मैंने अपने लंड का एक हल्का सा शॉट दिया जिससे मेरा लंड रिक्की की चूत बहुत ज्यादा कसी होने के कारण से फिसल कर बाहर आ गया. इससे पहले कि रिक्की कुछ समझ पाती, मैंने एक हाथ से अपना लंड रिक्की के चूत के लिप्स खोल के उसके छेद पर रखा और अपने चूत्तड़ों से कस के धक्का दिया जिससे मेरा लंड रिक्की की चूत में घुस गया. 

वो जोर से चीखी, “हाय मोनू ओह मार डाला” मैंने लंड थोडा बाहर निकाल कर एक शॉट और लगाया और अब मेरा लंड जड़ तक रिक्की की चूत में समा गया. ऐसा लग रहा था जैसे किसी बोत्तल के छोटे छेद में अपना लंड घुसा दिया हो और बोत्तल के मुँह ने कस कर मेरे लंड को पकड़ लिया हो. मैंने रिक्की से पूछा, “रिक्की कैसा लग रहा है?” 

रिक्की बोली, “आह्ह भैया इस्स्स्सस लगता है मैं ज़न्नत में हूँ. मेरे बदन से ऐसी मस्ती छूट रही है कि क्या बताऊँ. मोनू भैया बहुत मज़ा आआआ आ रहा है. अब तुम जी भर के मुझे चोदोऊऊऊऊ .”


Reply
09-10-2018, 02:41 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
मैंने रिक्की की दोनों जाँघें चौड़ी कर दीं और अपने हाथों से उसके पैरो के पंजे पकड़ लिए और खुद घूटने के बल बैठ कर अपनी गाँड के दनादन धक्के मारने लगा. रिक्की को अब भी तकलीफ हो रही थी पर वो भी अब चुदाई में पूरा साथ दे रही थी. वो ज्यादा मस्ती सहन नहीं कर पायी और सितकारी भरती हुए अपनी चूत का पानी मेरे लंड पर गिराने लगी और बड़बड़ा रही थी, “आह आँह मोनू मज़ा आ गया. मुझे क्या मालूम था अआह इतना मजा आएगा आःह्ह. इसके लिये तो मैं अपनी चूत बार-बार तुमसे फड़वाऊँगी.”

मैंने भी लगातार आठ-दस शॉट लगाये और उसकी चूत में जड़ तक अपना लंड उतार के झड़ गया. मैं रिक्की की चूत को चोद कर मस्त हो गया था और आराम से उसके ऊपर लेट कर उसके होंठों को चूस रहा था. थोड़ी देर बाद मैं उसके ऊपर से हटा और और उसका मुँह पकड़ कर अपने लंड पर लगा दिया और कहा, “बहन की लौड़ी रिक्की जब तक मैं न कहूँ मेरा लंड चूसती रहना नहीं तो गाँड मार मार के लाल कर दूँगा!” और आराम से अपनी पीठ टिका कर बैठ लगा.

रिक्की ने भी पूरी हिम्मत दिखायी और बिना वक्त बर्बाद करे मेरा लंड चूसना चालू कर दिया. करीब दस- पँद्रह मिनट की लगातार चूसाई से मेरा लंड फ़िर से तन्ना गया पर मैंने अपने आप पर पूरा कंट्रोल रख कर रिक्की के मुँह में अपना लंड तबियत से चूसवाता रहा. आज मैंने जितना रिशू से सीखा था सब उसकी सगी बहन पर अजमाना चाहता था. 

करीब दस मिनट बाद मैंने रिक्की को बोला, “चलो आज तुझे घोड़े की सवारी करना भी सिखा दूँ. मेरी प्यारी रिक्की. करेगी ना मेरे लंड पर घोड़े की सवारी?” 

रिक्की ने बड़े आश्चर्य से पूछा, “मोनू भैया तुम्हारा मतलब है कि मैं तुम्हारे लौड़े पर बैठ और उसे अपनी चूत में अंदर लूँ और अपने चूत्तड़ ऊपर-नीचे उछाल-उछाल कर लंड को अपनी चूत में लूं, जैसा ब्लू फिल्मों में होता है.?”

मैंने कहा, “हाँ मेरी कुतिया. लगता है बहुत ब्लू फिल्मे देखी है तूने… अरे जो ब्लू फिल्मों में होता है वो सब असलियत में भी होता है समझी. पर ध्यान रहे लंड बाहर नहीं निकलना चाहिए.”


Reply
09-10-2018, 02:41 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
रिक्की मेरे लंड के दोनों तरफ़ पैर करके खड़ी हो गयी और धीरे-धीरे नीचे बैठने लगी और एक हाथ से मेरा तन्नाया हुआ लंड पकड़ा और एक हाथ की उंगलियों से अपनी चूत के लिप्स खोले. जब मेरा लंड उसकी चूत से टकराया तो थोड़ा सा वोह घबरायी पर मैंने उसकी घबराहट देख कर उसके चूत्तड़ कमर के पास से कस कर पकड़ लिये और इससे पहले वो कुछ समझ पाती मैंने नीचे से अपने चूत्तड़ एक झटके से उछाले और पूरा लंड गप से उसकी चूत में उतार दिया. रिक्की बहुत छटपटाई पर मैंने भी उसकी कमर कस कर पकड़ी हुई थी.

दो तीन मिनट बाद जब उसक दर्द कम हुआ तो मैंने उसको अपने ऊपर झुका लिया और बोला, “रिक्की अब तू अपने चूत्तड़ उछाल-उछाल कर ऊपर नीचे कर और लंड सवारी का मज़ा लें.”

इतना कह कर मैंने उसका सिर दबा कर उसके होंठ अपने होंठों में ले लिये और चूसते हुए अपने दोनो हाथों से उसके पीछे से फैले हुए चूत्तड़ पकड़ लिये और मसलने लगा. रिक्की भी बड़े प्यार से उछलते हुए मुझे चोद रही थी, और दूसरी बार काफी देर तक हमने इसी पोज़ में चूदाई करी और मैंने अपने लंड का माल उसकी चूत में गिरा दिया और रिक्की को दबोच कर अपने ऊपर ही लिटा कर रखा और लगातार दो बार चुदाई करने के कारण हम थोड़ा सुस्ताने लगे और मेरी आँख लग गयी.

करीब एक घण्टे बाद मेरी जब आँख खूली तो देखा रिक्की मेरे लंड से खेल रही थी. जब मुझे उसने अपनी और घूरते पाया तो थोड़ा शरमा उठी. 
मैंने भी कहा, “मेरी जान चूस इसे… मुझे बहुत अच्छा लग रहा है.”

इस समय मेर गन्ना पूरी तरह से तन्नाया हुआ था. मैंने रिक्की से कहा, “रिक्की जब भी मैं या रिशू तुझे चुदाई का मज़ा देंगे तो ये हमेशा याद रखना की तुझे ये मज़ा मिलने में कामिनी आंटी का बहुत बड़ा हाथ है समझी.”

रिक्की तपाक से बोली, “यू आर राइट भैया, ऑल थैंक्स टू मम्मी. पर वैसे भी मैं अब ज्यादा इंतज़ार नहीं करने वाली थी, अंकुर या जय लाटरी कभी भी लगने वाली थी पर अब बेचारे हाथ मलते रह जायेंगे.”

मैंने कहा कोई नहीं उनकी भी लाटरी लगवा देना. क्या दिक्कत है.

रिक्की बोली जब भूख घर में ही मिट गयी तो बाहर का खाने का रिस्क क्यों लूं.

अब मेरा लंड फिर से रिक्की की चूत फाड़ने के लिए तैनात हो गया था. मैंने रिक्की से कहा की तू तैयार हो जा तब तक मैं पानी पीकर आता हूँ.


Reply
09-10-2018, 02:41 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
मैं नंगा ही बाहर गया तो देखा कि कामिनी आंटी ब्रा और पेटीकोट में बैठी हुई सिगरेट और शराब पी रही थी. मुझे देख कर बोली “क्या बात है मोनू” कामिनी आंटी की ज़ुबान नशे में बहुत लड़खड़ा रही थी और आँखें भी नशे में भारी थीं.

मैंने कहा “कुछ नहीं आंटी पानी पीने आया था पर आप तो व्हिस्की पी रही है. रिशू कहाँ है."

कामिनी: रिशू तो सो गया. मुझे नींद नहीं आ रही थी तो सोचा 2-4 पेग ही मार लूं. ले पानी क्या पीएगा. एक पेग लगा ले तू भी. रिक्की सो गयी क्या. आंटी ने मेरी तरफ गिलास बढ़ाते हुए पुछा. 

मैंने भी एक साँस में पूरा पेग गटक लिया और बोला "कहाँ आंटी, रिक्की अन्दर रूम में है. लंड ले कर एक दम मस्त चूत हो गयी है साली की. अभी तक दो बार लंड का पानी पी चूकी है, और तीसरी बार चुदाने को मचल रही है. चुदाने के मामले में एक दम तुम्हारी बेटी है! साली की बहुत गरम चूत है. इसको अगर दमदार मर्द नहीं मिला तो ये तो दूसरे मर्दों से खूब चुदवायेगी.”

कामिनी आंटी बोली, “अच्छा? तो जा जाकर ठंडा कर उसे.”

मैंने कहा, “कामिनी आंटी आप भी चलो न अन्दर. मेरी बड़ी इच्छा है कि तुम्हारी बेटी के सामने तुम्हें चोदूँ.”

कामिनी आंटी बोली “पागल है क्या. मुझे रिक्की के सामने चुदाने में बहुत शरम आएगी.”

मैंने कामिनी आंटी की एक न सुनी और उन्हें जबरदस्ती कमरे में ले आया. रिक्की बोली अरे मम्मी को क्यों ले आये. मैंने कहा देखो न यहाँ हम दोनों मज़े ले रहे है और जिनकी वजह से मजे ले रहे है वो बाहर उदास बैठी है इसीलिए इनको भी यहीं ले आया. पर ये शर्मा रही है. 

रिक्की बोली, “मम्मी आज से तुम मेरी सबसे बेस्ट फ़्रैंड हो और चुदवाने में क्या शरमाना. मैं भी तो देखूँ कि चुदाई का असली मज़ा कैसे लिया जाता है.”

मैंने रिक्की को कहा, “चलो रिक्की अपनी मम्मी का पेटीकोट उतारो और अपनी मम्मी की चूत नंगी कर के मुझे दिखाओ.”

मैंने कामिनी आंटी की ब्रा खोल कर उनकी चूचियाँ नंगी कर दीं. रिक्की ने भी कामिनी आंटी के सारे कपड़े उतार दिये और बोली “लो मोनू मेरी मम्मी की चूत हाज़िर है.” अब दोनों माँ बेटी एक साथ बिल्कूल नंगी मेरे सामने थीं. मैंने भी नंगी कामिनी आंटी को अपनी बाहों में ले लिया और किस करने के बाद बोला, “कामिनी डार्लिंग! आज तुम्हारी बेटी की चूत खोली है तो आज मैं तुम्हारे साथ भी हनीमून मनाऊँगा तो डार्लिंग तुम्हारी बेटी मेरा लंड चूस कर मोटा करेगी और आज मैं तुम्हारी गाँड मारूंगा. अपनी गाँड मरवाओगी ना कामिनी डार्लिंग.”


Reply
09-10-2018, 02:42 PM,
RE: Adult kahani पाप पुण्य
कामिनी आंटी नशे के कारण बहकी हुई आवाज़ में बोलीं, “मोनू, साले तू… तूने… मेरी चूत मारी… मेरे मुँह, गले में मादरचोद अपना लंड चोदा और मेरी चूचियों के बीच में भी लंड घिस के चोदा और…. और… यहाँ तक की साले तूने मेरी गांड को भी नहीं छोड़ा…. बोल साले भोसड़ी के… तुझे कभी मैंने ना कहा क्या… हैं, तेरा मूत भी पिया है मैंने? तो इसके बाद क्या पूछता है… जैसे तू मुझे चोदना चाहता है वैसे चोद, गाँड मारनी है… तो साले गाँड मार ले”

मैंने कहा “आंटी तुम बस आराम से कुत्तिया बन कर अपनी गाँड हवा में उठाओ… मैं अपना लंड रिक्की से तबियत से चुसवाकर तुम्हारी मस्त गाँड के लिये तैयार करता हूँ.” मैंने रिक्की को बुला कर अपने सामने घुटने बर बैठा कर लंड चूसने के लिये बोला और कहा, “लो रिक्की, चूस के तैयार करो अपनी मम्मी के लिये. देखो आज आपकी मम्मी कैसे नशे में धुत्त होकर मेरा लंड अपनी गाँड में लेगी. आंटी देख तेरी बेटी क्या तबियत से मेरा लंड चूसे के मोटा कर रही है तेरी गाँड के लिये. ये तो आज अपनी मम्मी की गाँड फड़वाकर ही मानेगी. देख तो सही साली एक दिन में ही क्या रंडी की तरह चूसने लग गयी है.”

मैं रिक्की का मुँह पकड़ कर हलके-हलके शॉट लगाने लगा. इतनी देर में कामिनी आंटी भी एक हाथ में बोत्तल पकड़ कर पलंग पर जैसे मैंने कहा था वैसे ही कुत्तिया बन गयी. मैने रिक्की के मुँह से अपना लंड निकाला और बोला, “रिक्की चलो ज़रा अपनी मम्मी कि गाँड के छेद को तैयार करो मेरे लंड के लिये… अच्छे से क्रीम लगाओ ताकि आंटी को ज्यादा तकलीफ न हो.”

रिक्की ने अपने हाथ में खूब सारी क्रीम भरी और कामिनी आंटी की गाँड के छेद पर लगाने लगी और बोली, “मोनू मम्मी की गाँड का छेद तो बहुत टाईट है. मेरी उँगली भी बड़ी मुशकिल से अंदर जा रही है लंड डालोगे तो गांड फट जाएगी.”

मैंने कहा, “कुछ नहीं होगा. हम पहले भी आंटी की गांड मार चुके है. आराम से खूब क्रीम मलो. थोड़ी देर बाद जब गाँड का छेद रीलैक्स हो जायेगा तब बड़े आराम से मेरा लंड अंदर जायेगा…” मेरी बात सुन कर रिक्की अपनी माँ की गाँड पर पूरी लगन से क्रीम मलने लगी और कामिनी की गाँड को लंड के लिये तैयार करने लगी. जब कामिनी तैयार हो गयी तो मैं पलंग पर चढ़ा और अपना तन्नाया हुआ लंड कामिनी आंटी के चूत्तड़ों पर फेरने लगा और रिक्की को बोला, “अब ज़रा मेरे लंड के ऊपर भी क्रीम लगाओ! अब मैं तेरी मम्मी के भूरे रंग के गाँड के छेद को खोलूँगा.”

रिक्की ने बड़े ही प्यार से मेरे लंड पर क्रीम लगायी और एकदम चिकना कर दिया. मैंने रिक्की को कहा कि वो अपने दोनों हाथों से अपनी मम्मी के चूत्तड़ पकड़ ले और खींच कर चौड़े करे ताकि कामिनी आंटी की गाँड का छेद थोड़ा सा खुल जाये. रिक्की ने मेरे कहे अनुसार अपनी मम्मी के दोनों विशाल चूत्तड़ों को पकड़ लिया और चौड़े कर दिये जिससे कामिनी आंटी की गाँड का छेद थोड़ा सा खुल गया. मैंने अपने हाथ से लंड पकड़ा और गाँड के छेद पर टिका दिया और दूसरे हाथ की उँगलियों से गाँड के छेद को और चौड़ा किया और लंड का सुपाड़ा टिका कर हल्के से झटका दे कर कामिनी आंटी की गाँड में सरका दिया. क्रीम की चिकनाहट के कारण मेरा एक इंच लंड कामिनी आंटी की गाँड के छल्ले में जा कर फँस गया.

कामिनी आंटी बोलीं, “मोनू दर्द कर रहा है.”

मैंने कहा, “कामिनी घबराओ नहीं. आराम-आराम से दूँगा. बस तुम हिम्मत कर के लंड लेती रहो.”


Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा sexstories 84 105,573 Yesterday, 07:48 AM
Last Post: King 07
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान sexstories 119 57,538 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post: sexstories
Star Kamukta Kahani अहसान sexstories 61 216,029 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post: lovelylover
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) sexstories 60 141,818 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post: lovelylover
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा sexstories 228 762,816 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post: lovelylover
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 sexstories 146 85,454 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार sexstories 101 206,883 02-04-2020, 07:20 PM
Last Post: Kaushal9696
Lightbulb kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत sexstories 56 27,727 02-04-2020, 12:28 PM
Last Post: sexstories
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर sexstories 88 102,967 02-03-2020, 12:58 AM
Last Post: Kaushal9696
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम sexstories 930 1,223,592 01-31-2020, 11:59 PM
Last Post: Kaushal9696



Users browsing this thread: 8 Guest(s)