Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी ने
12-01-2018, 12:20 AM,
#21
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
भाभी: कोई मेसेज नहीं करेगा... सुनो मेरी बात... मैंने सोचा है... के आप पांचो में... अरे वाह पांडव... मैं द्रौपदी... हा हा हा हा... आप पांचो में चार वर्जिन है... समीर अब पक्का खिलाड़ी बन गया है... में चाहती हूँ के कल से हर रोज़ एक एक जन घर आए मुझसे सिख के एक पक्का खिलाड़ी बन जाए... ११ बजे आना है और ६ बजे तक... एक रूम में रहेंगे... खाना भी वही... तो बर्थडे तक सब खिलाड़ी बन जाए...

और जो ख़ुशी की लहर चैट में दौड़ पड़ी... थोडा हल्ला भी बोला गया... के कौन पहले घर आएगा... केविन तो आखरी था ये तय था... पर राजू, कुमार और सचिन में पहले कौन आएगा? ये चर्चा चलने लगी... फिर भाभी ने ही तय किया... के अल्फाबेटिकली डिसाइड करते है... पहले आएगा कुमार, फिर राजू और फिर सचिन.....

तय होने पर कल आना था कुमार को... पर आज तो भाभी को मैं और मसलने वाला था... मैं तो भाभी को करीब ला कर उसके बूब्स मसल रहा था के कुमार का भाभी पर पर्सनल मेसेज आया....

मैं: माँ चुदाये कुमार, भोसडीका अभी तुजे क्यों मेसेज कर रहा है?
भाभी: तू तेरा काम चालू रख मुझे बात करने दे... थोडा घुलती हूँ उनसे... कल जो उनकी बाहो में पिघलना भी तो है...
मैं: तू मादरचोद आगे जाके बड़ी रण्डी बन सकती है... चल मैं चुदाई करता हु तेरी पीछे से तू बाते कर... तेरा बदन मुझे लण्ड खड़ा करने के लिए... चल अब ज्यादा टाइम रह नहीं गया... तेरा पति कभीभी आ टपकेगा... ,२० मिनिट है...
भाभी: पर चोद लेना... तुजे चूत कहा है पता... बाते मत कर न...
मैं: साली कुतिया रंडी... तू पैर तो फैला साली मादरचोद..
भाभी: तुजे चोदना है तो तू ही सब कर ले.. मुझे कल की तयारी करनी है तो मैं कुमार से बात करती हूँ...

भाभी ने तो अपना काम पैर फैला कर, कर दिया... चूत चाटो और भाभी को तैयार करना मुझे सोप कर... वो खुद बाते करने लगी, उनकी बाते और उत्तेजक हो इसीलिए मैं भाभी को और उकसा रहा था... उनकी चैट कुछ इस तरह से हुई...

भाभी: हां बोल
कुमार: ये सब मुझे सपना लग रहा है.. सब मुझे बेवकूफ नहीं बना रहे हो न?
भाभी: तेरी मरजी मत आना...
कुमार: अरे मैं तो सिर्फ... ओके कुछ तैयारी कर के आउ क्या मेरी भाभी जान?
भाभी: नहीं मेंटली प्रिपेर कर के आना...
कुमार: आपके रिप्लाय शॉर्ट आ रहे है...
भाभी: क्या करू तेरा दोस्त मेरी डौगी स्टाइल में बजा रहा है...
कुमार: में भी करूँगा... पर मैंने कॉन्डम नहीं खरीदा कभी...
भाभी: मेरे साथ कभी जरूरत नहीं.. कभी मत पहनना जब तू मुझे चोदे...
कुमार: थैंक्यू भाभी..
भाभी: और कुछ?
कुमार: बस साफ सफाई करू के रहने दू?
भाभी: हा हा हा हा... तुजे जो ठीक लगे... मैं तो एकदम चिकनी और मस्त रहूंगी बिना बाल के... तुम्हारे जनरेशन में यही पसंद होता है न?
कुमार: हा पर मैंने महीने से नहीं काटे... मैं नहीं काटु तो चलेगा...?
भाभी: अरे तुजे जो पसंद हो... तेरा पहली बार है... कल तुजे एक्सपर्ट बनाके ही घर भेजूंगी...
कुमार: और एक बात... मुझे जड़ने के टाइम गाली बोलना अच्छा लगता है...
भाभी: अरे तू मुझे कभी भी गाली देकर बुला सकता है... अभी भी बुला सकता है... कर दे तेरी भड़ास पूरी...
कुमार: थैंक्यू मेरी भोसडीकि रण्डी भाभी...
भाभी: ह्म्म्म खुश? अब मैं जाती हूँ... कल मिलते है... अभी मुझे भी जड़ना है समीर के भैया आये उस से पहले...
कुमार: ओके मफरचोद बाय...

तो ये था उन दोनों के बिच का संवाद... मैंने भाभी को मस्त तरीके से चोद दिया... और फिर हम अपने अपने काम पर लग गए... वो दिन तो ख़तम हो गया..... प्रॉब्लेम ये था के कल भाभी के चूत गांड या मुह तो मिलने वाला नहीं था.. घर में बैठ के मैं क्या करूँगा?

दूसरे दिन भाभी गायब... नहीं उठाने आई... किचन में देखा तो लिखा था...

"मेरे सेनापति जी... जो भी नया सेनापति आये उसे मेरे कमरे में भेज दीजिएगा... ये प्रजा उनसे डाइरेक्ट रूम में मिलेंगी... और हां... आपके उठने का इंतज़ार नहीं किया क्योकि मैं उसे तरोताज़ा मिलना चाहती हूँ... तुमारी सेक्सी भाभी कीर्ति..."

लो अब भाभी की ठुकाई नहीं मिलने वाली थी उतना कम था के भाभी का चेहरा भी नहीं देखने मिलने वाला था? ११ बजे कुमार आया...

कुमार: हेलो... भाभी कहा है...
मैं: वो रंडी उनके रूम मे है.. और तू क्या साले मुझसे तो मिल? रंडी मिली तो दोस्तों को भूल गया..?
कुमार: मादरचोद मुझे मिली कहा है... तू तो मिली फिर २ दिन गायब हो गया था...
मैं: हा... ठीक है ठीक है... जा अंदर चला जा..

वो अंदर चला गया... भाभी ने या किसीने ये कभी किसीको नहीं बताया के हर एक जन के साथ रूम में क्या क्या हुआ था... बस दिन भर रूम से भाभी की चीखें सुनाई देती थी... कोई इन्टेन्स हो के मारता भी था.. यहाँ तहा... तो चपत बाहर तक सुनाई देती... जब सबका राउंड ख़तम होता तो थोड़ी देर रूम में शांति बनी रहती... पर थोड़ी देर मैं भाभी वापस चुदी जाती... मैं बस सुन पाता... मेरे दोस्त भारी गालिया बकते... सब के चहरे पे एक अजब का सुख देखने को मिलता। हररोज़ भाभी रूम में पलंग पर नंगी लेटी पड़ी पायी जाती... कुमार, राजू और समीर का कॉमन डायलॉग था... साली मुझे सिखाने चली थी... अब पस्ता रही है.. खड़ी होने की हिम्मत नहीं है...

मैं भाभी को पलंग पर देखता तो उसके मुह पर एक अजीब सी ख़ुशी दिखाई देती... गांड, चूत वीर्य से भरी... मुह से वीर्य की सुगंध... पूरा रूम अजीब सी स्मेल देता था... मुझे इस हाल पर देख के रहा नहीं जाता था... और मैं सब पोछ कर मैं भी अपनी हवस पूरी कर लेता.. भाभी की कैपेसिटी गज़ब थी... मुझे बड़ा अच्छा साथ देती... केविन के टाइम तो कुछ अलग ही हुआ...

केविन जब बाहर निकला रूम से तो...

केविन: ४०००० तक की रंडिया ने जो सुख नहीं दिया वो सुख तेरी भाभी ने आज दिया है.. साला मस्त माल है... मादरचोद सम्भल के जतन करना... ये लंबे अरसे तक हमारा साथ देगी... हमने आज एडवांस्ड लेवल की चुदाई की है... और मैं चाहता हूँ के तू और बाकि के बच्चे ये सीखे की अडवांस्ड लेवल क्या होता है... ताकि बर्थडे के दिन हम सब उसके शरीर का मस्त इस्तेमाल करे.... देख जा लास्ट पोसिशन में जो भाभी पड़ी है... वो देख ले... तेरे लिये हे आँखों देखा होगा पर सब को मैं मेसेज में.. मैं और भाभी दोनों समजायेंगे... ओके?

मैंने सब सुन लिया... चारो जन को रिटर्न गिफ्ट क्या चाहिए वो ये हर एक सेशन के बाद बताता था.. जो मैं आपको वो पहले बता देता हूँ... वो सब एक कागज़ में लिखा था...

कुमार: भाभी ए+ ग्रेड माल है... मतलब की फाइव स्टार रंडी है... तो रंडी होने के नाते निप्पल पर रिंग्स होने ही चाहिए... तो खीच के टॉर्चर करने में मज़ा आए... टॉर्चर सहन करना उसे पसन्द है इसलिए...

राजू: हम गरीबो को ऐसी रंडिया भी नसीब नही होती.. ना ही शादी के लिए ऐसी खूबसूरत बीवी मिलती है... मैं चाहता हूँ मैं उनको अपनी बीवी बना लूँ...

सचिन: भाभी को कही बाहर ले जाते है... भाभी को हमारे अलावा किसी और से भी चुदवाते है... मस्त कपड़े पहनाकर ता के हर कोई उसे घूरे... बहोत ही रफ सेक्स करना चाहते है... ऐसा के कोई काबू न रहे...

केविन: भाई, तेरी भाभी तो महा रण्डी निकली... मेरे पिताजी के कम्पनी की दो डील्स रुकी हुई है... करोडो आ सकते है... १०% तेरा... अगर वो दोनों क्लाइंट्स के साथ मीटिंग में भाभी आ जाए... थोडा खुश कर देंगे तो मज़ा आ जाए...

अरे बाप रे... ये लोग तो बहोत बड़े हवसी निकले.. मैंने केविन के कहने पर भाभी को देखने अंदर रूम में गया... तो ये नज़ारा पाया...



साला जो छोटे लोग सोच रहे थे उससे आगे निकल गया था केविन...

मैं: छोड़ू के रहने दू भाई के आने तक मादरचोद... साली रंडी ये कौनसा लेवल आया है हवस का... भोसडीकि?
भाभी: वो मैं और केविन बाद में बतायेगे... तुजे अभी चोदना है तो इसी हाल में चोद ले... पर तुजे ये बताना पड़ेगा...
मैं: क्या? पेंटी हटाना है वो?
भाभी: अरे उसे साइड में कर दे या काट डाल... भाड़ में जाए... पर तुजे... अगर मेरे बालो को पीछे गर्दन से हटाएगा..... तो रस्सी मिलेगी... वो रस्सी मेरे दोनों निप्पल से बंधी है एकदम टाइट... तो जब भी तू उसे खिंचेगा... मेरे मम्मे ऊपर निप्पल के सहारे आएंगे... मुझे मज़ा आएगा... और मुझे कहरते हुए देख तुजे भी...
मैं: साला ये तो आप दोनों ने सेक्स को एक लेवल उप कर दिया... अभी तो तुजे सब को रिटर्न गिफर देने है... वो पढ़ेगी तो तुजे और मजा आने वाला है...
भाभी: क्यों? क्या है...
मैं: पहले मैं तुजे अच्छे से ठोक तो लूँ...
भाभी: याद रहे मेरे निप्पल...
मैं: अरे वो तो पहले याद रहेंगे... मुझे मजा नहीं आएगा ऐसा कुछ भी करेगी के खीच लूंगा... कल से पुरे दिन की ये ड्यूटी है..

मैंने भाभी को बराबर चोदा और फिर जल्दी से सब ख़तम करके कमरे को पूरा चकाचक कर दिया... केविन ने तो पुरे रूम मैं भाभी की बराबर ले ली थी...
Reply
12-01-2018, 12:21 AM,
#22
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
दूसरे दिन जब मेरी आँखे खुली तो भाभी अपने आपको रेड़ी कर रही थी... मैंने उसे इस हाल में देखा... भाभी ने भी आईने से मुझे देखा...



भाभी: देख क्या रहा है... चल बाँध दे न...
मैं: भोसडीकि, तुजे अभी नंगी ही करना है मुझे... माँ चुदवाने जा... ऐसे ही खुली रहने दे...
भाभी: अरे तो फिर निपल से ये सरक जाती है...
मैं: तो रहने दे न...
भाभी: चल ठीक है...
मैं: कल तू और केविन किस लेवल पर पहोच गए थे? बताना
भाभी: जा तू फ्रेश हो के आ बाद में बात करेंगे...

मैं जब बाहर निकल के आया भाभी... क्लिप्स ले के आई थी... कपडे सुखाने के लिये... और सामने लैपटॉप था... जहा सब सेटिंग कर के रख्खी थी.. हम ऑनलाइन होने वाले थे?

मैं: ये क्या कर रही है?
भाभी: तुम सब लोगो को ट्रेनिंग देनी है...
मैं: तो सब को बुला ले न?
भाभी: नहीं अब सब लोग आप मुझे तेरे बर्थडे के दिन ही चोदोगे...
मैं: मैं भी?
भाभी: अरे तू तो चोद लेना... मुझे उस दिन दो जन तो ऐसे चाहिए तो मुझे अच्छे से पैल सके... वर्ना मज़ा कहा आएगा मुझे... तू सच कह रहा था... मुझे जितने भी मिले लण्ड कम पड़ेंगे... हा हा हा....
मैं: हा हा हा... मादरचोद तुजे सच में कम पड़ेंगे... और... और मिलने का प्रबंध हम करने वाले है... कहके मैंने उसके स्तन पर चिमटी काटी...
भाभी: आउच... चल बता क्या रिटर्न गिफ्ट दिलवा रहा हे मुझसे?
मैं: रंडी तेरे बदन से बोल... पर पहले ये बता के तूने ये चारो लोगो का स्वागत कैसे किया था...
भाभी: वो सस्पेंस है...
मैं: (भाभी के स्तन पर चमात मार के) साली रंडी, मैंने तुजे लण्ड दिलवाये है... बोल भोसडीकि...
भाभी: आ.... ह धीरे...
मैं: कुतिया तुजे और मारने का मन होता है...
भाभी: यही सेक्स का दूसरा लेवल है... चल तुजे तो बताउंगी के चारो को कैसे मिली थी....

भाभी ने अपना फोन निकाला और मुझे दिखाया....

भाभी: कुमार को मैं कुछ ऐसे मिली थी...



राजू को कुछ ऐसे...



और सचिन को कुछ ऐसे...



मैं: और केविन को?
भाभी: हमारी बात पहले से हो चुकी थी... वो ऑलरेडी रंडियो को मिल चूका है... तो ये सब उनके लिए पहली बार नहीं था... तो हमने दूसरा लेवल तब ही बना लिया था... उसने मुझे इस हाल में पहली बार इस्तेमाल किया...



मैं: वाह... क्या बात है... किसको क्या क्या पसंद आया तुझमे?
भाभी: सचिन और कुमार को मेरी गांड, राजू को मेरी चूत और केविन मेरे निपल के पीछे पड़ा था जब से मैंने उनको... वो न... एक ही निप्पल चूसे जा रहा था... जैसे मैंने उनको दूसरे के लिए न्योता दिया के वो समझ गया के मुझे निप्पल से कोई खेले तो पसन्द आता है...
मैं: ह्म्म्म चलो अब रिटर्न गिफ्ट का भी देख ले?
भाभी: हा दे....

भाभी ने सबकी ख्वाहिश पढ़ी... फिर बोली...

भाभी: निप्पल पर रिंग?
मैं: हा ये तेरा पसंदीदा होगा...
भाभी: ह्म्म्म्म बस बीवी बनना?
मैं: ये छोटी बात है?
भाभी: अरे क्या उसमे... बन जाउगी...
मैं: तो तो हम भी बनायेगे...
भाभी: देखेंगे... वाह बहोत सारे लण्ड बाहर.. और ओह माय गॉड... केविन तो डील्स के लिए बोल रहा है... हमारे १०%? ये भी सौदा बुरा नहीं है वैसे... निप्पल कैसे चुंदवाउ? वो तो बहोत की कठिन काम है... और कैसे... किस तरह से... चलो न ऑनलाइन सब होंगे तब बात करते है...
मैं: भैया को क्या बोलेंगे?
भाभी: वो सब छोड़ दे... उसे भी मज़ा आता ही है... तो ये सब उनके लिए बोनस है...
मैं: ओके... तो बोल सबको ऑनलाइन आने को....
Reply
12-01-2018, 12:21 AM,
#23
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
मेसेज में सब को ऑनलाइन आने को बोला और भाभी ने अपना मेरे बर्थडे वाले दिन का प्रोग्राम बताया... जो उसने जट से रेड़ी कर लिया था...

भाभी: हैल्लो....

सब ने उसे है रंडी कह के बुलाया...

भाभी: देखो...
केविन: ब्रा पीछे खुली रख्खी लगती है... तेरी चूंचियां दिखा के बात कर...
भाभी: हा ओके...

भाभीने ब्रा की परत निचे के निप्पल दिखे ऐसे एडजस्ट किया...

भाभी: चलो... तो हम समीर के बर्थडे वाले दिन क्या करेगे? जो एक्सपर्ट लेवल है... उसकी टैनिंग दूंगी... अब मैं और केविन ही बोलेंगे... बाकि सुनो... और समीर को मौका मिलेगा लाइव ट्रेनिंग का... तो सबसे पहले आपको मज़ा आया चोदने का?

सब हां बोले...

भाभी: तो अब आप सब का बिस्तर मैंने गर्म किया है... तो मुझे महसूस हुआ के ये तो ठीक है हर कोई करता है... असली मज़ा उसे बरकरार रखने में है... तो अब पहले तो आब सब लोग वायेग्रा लेकर आना उसदिन... कोई मुझे जल्दी जड़ने वाला नहीं चाहिए... एक लड़की को चोदने के लिए... चार मस्त जगह है मर्द के पास पर कोई उसे एक्सप्लोर नही करता.. अगर लण्ड कहीं घुस के बैठ जाता है... इसीलिए मुझे ज्यादा लण्ड चाहिए... ताकि दूसरे मर्द मेरे अलग अलग अंग से खेले... पहला भाग है.. स्तन, दूसरा है चूत, तीसरी मेरी गांड और चौथा मेरा मुह... ये चारो भाग को टॉर्चर करना भी आना चाहिए... उसके लिए लड़की के हाव भाव देखना चाहिए...
केविन: लड़की को मज़ा आये तब तक उसे टॉर्चर करो फिर जैसे हाव भाव चेंज होने को आए उसके बाद जब ये दर्द तक पहोंचे तब तक उसे टॉर्चर करना चाहिए...
भाभी: ह्म्म्म्म
मैं: भाभी अगर हम सब एकसाथ आप पर चढ़ जायेगे तो पांचवा क्या करे गा?
भाभी: इसलिए तब मैं आपके लिए ट्रिपल पेनेट्रेशन करुँगी... तो चूत या गांड मैं दो लौड़े ले लुंगी..
मैं: ह्म्म्म

अब भाभी ने क्या क्या समजाया वो मैं आपको जब हुआ उसी दिन बताऊंगा... बर्थडे के दिन... इस बिच भाभी ने चार दिन में भाभी पर भारी पड़ने वाला एक मस्त एक्पर्ट बना दिया... अब हमारा प्लान क्या था बिर्थडे के दिन? क्योकि सब को रिटर्न गिफ्ट भी तो देना था...

सुबह भैया जैसे ही बाहर जाएंगे.. सब लोग हमारे घर आयंगे और... प्लान... 

चलो सीधा मेरे बर्थडे के दिन ही चलते है... बताउगा के क्या दिन गुज़ारा था हमारा...

सुबह जब भैया गए तब तक जानबुज कर मैं सोता रहा... भैया मुझे विश करने के लिये काफी टाइम तक रुके... पर भाभी को पता था के मुझे भैया में बिलकुल इंटरेस्ट नहीं था... पर भैया आखिर हारकर चले गए... मैं भाभी और भैया के बारे में हुए वार्तालाप की बात करता हूँ...

भाभी: आप जाओ वो सोया हुआ है... और वो लेट ही जगता है...
भाई: तो वो कॉलेज जाता है की नहीं...
भाभी: कभी जाता है... कभी नहीं... छोडो ना क्या सुबह सुबह...
भाई: अरे मैं तो सिर्फ विश करने के लिए... तुजे पता है... एक यूके के क्लाइंट से एक मीटिंग है तो आज देरी होने वाली है... ग्यारह बज जाए...
भाभी: रात को कर लेना... मेसेज कर देना... फोन कर देना.... पर हां सुनो शायद आज हम बाहर जाएंगे... समीर भाई बोल रहा था के आज शाम को खाना खाने के लिए बाहर जाएगे... मैंने तो मना किया था... मेरा मन नहीं था, क्योकि शायद उनके दोस्त आएंगे... पर भैया भी चले जाएंगे, आप भी देर से आएंगे... तो जाउ?
भैया: पक्का न? तू उस दिन...
भाभी: अरे नहीं नहीं... मैं ही कुछ, मुझे माफ़ कर दीजिए... प्लीज़?
भैया: अरे तुजे ऐतराज़ नहीं तो फिर मैं तो अपने भाई को जनता ही हूँ... वो कभी ऐसा नहीं करेगा...

अब भैया को क्या मालूम के क्या मैं हूँ? क्या मेरे दोस्त है? और क्या उसकी पत्नी है...

भाभी: तो मैं जाऊ?
भाई: हा हा बिलकुल जाओ घर पे बोर हो जाओगी उससे अच्छा के उन लोगो के साथ रहोगी तो समीर के दोस्त कैसे है पता चलेगा... कहीं बुरी संगत में तो नहीं फस गया...
भाभी: ह्म्म्म ठीक है...

भाई तो चले गए तुरंत मैं बहार निकला और भाभी को पीछे से दबोच लिया....



मैंने देखा तो भाभी के ब्लाउज़ के हुक खुले थे....

मैं: साली खोल भी दिए?
भाभी: अरे तेरे भाई सुबह सुबह दबाके जाते है न? तू सो रहा था तो खोल के दबाया... तू उठने ही वाला था तो मैंने फिर खुले ही रख्खे...
मैं: चल मादरचोद किस दे... जन्मदिन है मेरा....
भाभी: मुह तो धो के आओ...
मैं: आज कुछ नहीं मैं आज के दिन के लिए तेरे बदन का मालिक हु मुझे जो पसंद आए वही...

थोड़ी ना नुकुर करके भाभी ने मुझे किस दिया... मैंने अपनी जीभ उनके मुँहमे अंदर तक घुसाई... भाभी ने साथ दिया... पर भाभी ने रोक कर कहा...

भाभी: रुक यही पे... तैयार हो जा तेरे दोस्त आने ही वाले होंगे.. और मुझे तैयारी करनी है...

मुझे पसंद नहीं आया पर आज बहोत कुछ होने वाला था... इसलिए मैं ये छोटी चुदाई पे ध्यान नहीं देना चाहता था... डोरबेल बजी के मेरे सारे दोस्त अंदर आये और उनके साथ एक हट्टा कट्टा नौजवान भी आया जो निप्पल में छेद करने के लिए स्पेशल था.. वो आया और आते ही शिकार ढूंढने लगा... पर भाभी अपने रूम में शायद तैयार होने गई थी... आज भाभी क्या पहन के आएगी? उसे पता तो था के एक लड़का आएगा... तो अब?

और भाभी रूम से बाहर आई...



मादरचोद... कितनी बार ठोका मैंने फिर भी ये जलवे ऐसे दिखती है की बस मन नहीं भरता...

भाभी: ये कौन है?
राजू: ये तेरे निप्पल पे छेद करवाने के लिये बुलाया है... अपना टीशर्ट उतरवाएगी या थोडा अड्जस्ट करके निप्पल टीशर्ट से बाहर निकालेगी?

लड़का सब खुली आँखों से बस देखे जा रहा था...

भाभी: नहीं नहीं अभी नहीं... मुझे समीर के भैया से परमिशन लेनी पड़ेगी... भैया तू बाद में आना हम बुला लेंगे...
केविन: तो अभी प्लान के मुताबिक चले?
भाभी: हा चल तेरे फार्म हॉउस पर...
सचिन: चिंटू तुजे फार्म हॉउस का पता पता है?
केविन: तू टेंसन मत ले सचिन ये आज निप्पल में छेद करके ही जायेगा...
भाभी: केविन तूने इनको आने दिया?
केविन: अरे भोसडीकि मना करता तो सबको पता नहीं चल जाता?
Reply
12-01-2018, 12:21 AM,
#24
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
ये सब के बिच चिंटू जैसे निकल गया भूखी नज़रो से के सब भाभी के आसपास उस पर लपक पड़े... साली क्या माल है रे तू मादरचोद करके... भाभी ने सब को रोका...

भाभी: चलो पहले सब दूर हो जाओ... जिसका बर्थडे है उसे अभी तक कुछ नहीं मिला के सब आ गए मुझे बाटने... चलो केविन.... प्लान ले मुताबिक चलो...

क्या है के प्लान प्लान? हम सबका माथा सनका, और पता चला के केविन और भाभी का अलग ही चेटिंग चल रहा था.. दोनों ने ये सब प्लान किया था... के आज के दिन क्या क्या होगा.. मेरा बर्थडे शानदार बनाने के लिए....

मैं: भाभी, ऐसे निचे उतरोगी? कोई देख लेगा तो? अपना सिक्यूरिटी गार्ड वाला ही देख लेगा...
भाभी: अरे तू टेंशन मत ले, मैं कम्बल ओढ़े आने वाली हूँ.. और मुझे गाड़ी में भी हाइवे तक हाथ नहीं लगाएगा....

भाभी कम्बल ओढ़कर हमारे साथ बहार निकली... हम सब चुपके नज़र से जितना होता था बचके निकल गए.... अभी तक पता था उसके हिसाब से केविन के फार्म हाउस पर जाना था... जो के हमारे घर से तो दो घंटे दूर था एक छोटे के गाँव के पास!! तो दो घंटे तो आने जाने में ही निकल जाएंगे। ग्यारह तो बज चुके थे... क्या बकवास प्लान था ये... कुछ समझ नहीं आ रहा था...

केविन गाडी चला रहा था... और हमसब पीछे बैठे... केविन का तो सेक्सपर्ट लेवल था और आज का ऑर्गनाइजर भी था तो सब को पीछे बैठ के मज़े लेने के लिए बोला...

हाइवे पर पहोचते ही जैसे सुमसाम रास्ता शुरू हुआ के भाभी ने चादर को हटाया... अरे बाप रे... साली ने जो पहना था वो भी गायब... मादरचोद नंगी गाडी में बैठी थी? ये मादरचोद देख मेरी फटी... साली बिकिनी पेंटी तो पहनती... पर उस वखत और कुछ नहीं सूझता... गोरा बदन सब चारो भेडिए भाभी के ऊपर लपक पड़े... भाभी को मस्त यहाँ वहा छूने लगे... भाभी कहर ने लगी...

भाभी: थोडा तो मर्द बनके हाथ चलाओ... मेरी छाती पर तो एकदम भारी चलना चाइए...

हम सब अपनी मर्दानगी बताने के लिए... टूट पड़े...

केविन: मेरे लिए कुछ रखना भाइयो...
मैं: मादरचोद, ये भोसडीकि थोड़ी ख़तम हो जाएगी? हम भोग ले तब तू भी भोग लेना...
केविन: हा हा हा आप भी भोग नही पाओगे...

हम सब क्यों बोल के चोक गए...

केविन: ये तो अभी शुरुआत है! नंगी सामने कड़ी है पर फिर भी कुछ कर नहीं पाने वाले आप लोग जब तक फार्म हॉउस नहीं पहुंच जाते....

तो हम सब भाभी पर और टूट पड़े... भाभी को यही चाहिए था... के अधूरेपन में सब लोग उनके शरीर से कुछ कुछ हांसिल करने के लिए उतावले हो... तभी हम कुछ जबरदस्ती करे... इतने सारे हाथ भाभी पर चल रहे थे पहली बार... कोई भाभी के मुह में कोई भाभी के बालो पर कोई भाभी के स्तन पर कोई भाभी के निप्पल पर कोई चूत में कोई गांड में...कोई पीठ पर कोई पेट पर तो भाभी जल्द ही अकड़ गई... ये उनके लिए भी तो पहली बार था... तभी केविन ने गाडी रोकी...

केविन: चलो यहा एक मिनिट में केक आने वाली है...

थोड़ी देर में एक टेम्पो आया... उसमे एक हट्टा कट्टा काला नौजवान था...

केविन: जाओ भाभी केक की फीज क्या देनी है तुजे पता है...

अरे बाप रे हाइवे पर भाभी नंगी निचे उतरी.. वो काला आदमी भी निचे उतरा और फिर बाहर ही उसे किस किया और पीछे टेम्पो में ले गया... २० मिनिट के बाद भाभी हाथ में केक लेके आई... साली चुदवाके आई? यहा हम भूखे है और वो साला खा के चला गया...?

भाभी आके जीप में बैठी...

केविन: कितने लिए?
भाभी: सिर्फ चूत की बात हुई थी न? साले ने गांड भी मारी पर अब सब कुछ अनलिमिटेड जी भर के लिए फ्री... कंडोम भी नहीं पहना..
केविन: मज़ा आया न?
भाभी: मैं तो सोच रही थी के इनको बुला लेते है...
केविन: रहने दे मादरचोद.. अपनी पार्टी है... तुजे जाना है तो तू उनके साथ अलग चुदवाने जाना...

भाभी तो रण्डी नम्बर वन बनती जा रही थी... भाभी का गोरा चिट्टा बदन लाल लाल था... हम अब मन्ज़िल की और आगे बढे... केक भाभी पकड़े बैठी थी... पर हम ने फिर से भाभी को छूना शुरू किया... भाभी ने केक आगे भिजवा दी... हम ने भाभी को और एक बाए जाड़ा.. साली जब जड़ती थी तो उसको देखना कुछ अलग महसूस हो रहा था...

मैंने हिलते एक मम्मे पर चपत लगाईं....

भाभी: क्यों मारा? क्या गलती की? चल पहले दूसरे मम्मे पर मार ले...
मैं: भोसडीकि तू हमारे लण्ड तो मुह में ले...
भाभी: नहीं प्लान के मुताबिक फार्म हॉउस तक कुछ नहीं...
मैं: चलो भाइयो मारो इस रंडी को...

हम सब ने दे धना धन भाभी को सारे बदन पर चपत लगाने लगे...

केविन: अरे भाभी को आगे बुलाओ मुझे भी मारना है... आगे जुका दो साली को...

भाभी आगे आई और जुकी... स्तन उनके सिट पर लटके हुए थे... केविन ने हल्का छुए और फिर निप्पल को सहलाया... और दोनों पर एकसाथ पड़े ऐसे चपत लगाई... हमारी और भाभी की उभरी गांड थी... हमने वहा दे धनाधन मारना चालू किया... भाभी आऊच, उई माँ, हा प्लीज़ मसलों न, मारो ये यही लायक है... कहरती रही... कभी गांड केविन की तरफ और मम्मे हमारी तरफ.... और ऐसे करके हम पहोंचे फार्महाउस पर...

हम फार्महाउस पर पहुचे थे... केविन ने तो गाडी उधर ही रख दी....
Reply
12-01-2018, 12:21 AM,
#25
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
केविन: जा मादरचोद दरवाज़ा खोल...
भाभी: हा अभी जाती हूँ... पर इन सब को बोलो पहले के मुझे छोड़े...
मैं: भाभी आप नंगी जाओगी?

आजूबाजू भले ही दूर दूर तक जंगल ही था... और जंगल में हम मंगल करने के वास्ते आये थे... पर भाभी पर ये हवस का कौनसा लेवल था? जा के कैक वाले से हाइवे पर चूड़ी उसके टेम्पो में... वो भी बिना कंडोम के क्योकि भाभी की चूत में जब ऊँगली डाली थी तो वो काले वहशी के वीर्य निकलता हुआ देखा था... चूत तो साफ़ करके आई थी... पर अंदर तक जो फव्वारा उड़ा होगा चूत के, वो तो निकलेगा ही... इसी के चक्कर में किसीने चूत नहीं चाटी थी जीप मैं... और अब भाभी जीप से नंगी बाहर जा के फ़ार्महाऊस का दरवाज़ा खोलने जाने वाली है... पर मैं अब खोटी चिंता कर रहा था... मैं ये सोचने लगा के साला हाइवे पर नंगी जा कर एक अनजान आदमी से चुदवाके आई, हाइवे पर तो कई लोग देख सकते थे, तो अब तो क्या यहाँ कोई देखने वाला था? भाभी जीप से बाहर निकली और निचे उतर कर फार्महाउस का दरवाज़ा खोलने जाने लगी... गांड को मटक मटक कर उछल उछल के चलते हुई दरवाजा खोलने गई...

चारो और सुमसाम जंगल जैसा था। बिच में एक आलिशान बंगलो था... आजूबाजू बस सब ग्रीन ग्रीन था... हम सब बैठे थे जीप मैं और भाभी ने दरवाज़ा खोल के हमारा स्वागत किया...

मैं: केविन, यहाँ कितने समय से कोई नहीं आया होगा?
केविन: अरे मैं आता हु... इस का वैसे साफ़ सफाई करवा दी है... दो नौकर यही है.. तो वही लोग होंगे अभी तो...
मैं: साले क्या प्लान है तुम लोगो का...
केविन: देख तेरा बर्थडे बिना खर्च का हो रहा है... सब को मेहनताने के तौर पर भाभी मिलेगी... वो भाभी ने माना है... और इसिलए ये सब मुमकिन हुआ है... और हां आज के आज ही सब को अपना रिटर्न गिफ्ट मिलेगा... मेरी दो डील साइन करने वाली पार्टी भी यही आएगी...
मैं: अबे कुत्ते आज के आज सब कैसे हो पायेगा... तो फिर हमे क्या मिलेगा?
केविन: भाई सब हो जायेगा टेंशन मत ले... सब इंतेज़ाम है.. चल अब वो नंगी इंतज़ार में खड़ी है...

हम सब निचे उतरे... सब निचे उतर के भाभी को वापस हग करने लगे... भाभी भी डेरिंग बाज़ थी... सिर्फ कम्बल ओढ़े नंगी ही जीप में आ बैठी थी... अंदर दो नौकर भी थे... वो जीप रुकते ही आ गए... एक का नाम तेजसिंह और दूसरे का रामपाल था.... दोनों भाभी को नंगी देख हक्के बक्के रह गए...

तेजसिंह तो बाहर कड़ी चैर पर बैठ गया, क्योकि वो होश खो बैठा था... पर रामपाल थोडा आगे बढ़ा... दोनों के उम्र शायद पचास से ज्यादा होगी... साले दोनों बुढ्ढे की आज लॉटरी लग गई थी... मेरा बर्थडे और अभी तक मुझे तो कुछ नहीं मिला था...

रामपाल ने ऊपर कुछ नहीं पहना था...

रामपाल: आइये भाभी जी... आपका स्वागत कैसे करू?

वासना के कीड़े... बुढ्ढे हो गए थे पर औरत देखी नहीं के चालू

भाभी: मेरे मम्मो को हाथ में लेकर करीए स्वागत.. छुये न प्लीज़?

बुढ्ढा पागल हुआ कुछ ऐसे करने लगा...



केविन: ओ रामपाल मुँहमे भर ले हा हा हा...

रामपाल ख़ुशी से पागल हो कर मुह में भाभी के मम्मे भर लिए... और भाभी को तेजसिंह याद आया तो रामपाल मुह में लेके मम्मे चूस रहा था उसके मुह से निकलवा के तेजसिंग के पास गयी और उसे कुछ इसतरह मिली

भाभी: आप नहीं लेंगे मुँहमे? लीजिये ना...



पर तेजसिंह ने उसे निचे बिठाकर उसके मम्मे मसलते हुए उनसे किस करने लगा... रामपाल पीछे पीछे आ ही गया उसे केविन ने रोका...

केविन: अरे ओ बुढ्ढों... हम सब जब इनसे संतुस्ट हो जायेगे... थक जायेगे तब तुम्हारी बारी... तब तक जाओ जीप में पड़ी कैक निकालो...
रामपाल: मालिक हम देख तो सकते है न?
तेजसिंह: हा मालिक?
भाभी: हा। देख लेना.. सब मालिक लोग थके तभी आप लोग की बारी...
तेजसिंह: मेमसाब आप नहीं थकेगी?
भाभी: हां तो? शायद साथ न दे पाउ पर तू लोग जो करना है कर ही सकते हो..

वो दोनों कैक ले कर चले गए... भाभी को फिर हम सब लोगो ने दबोचा... पर भाभी तो हाथ छुड़ा के भाग गई... वो दोनों बुढ्ढों के साथ...

राजू, कुमार और सचिन अभी तक बस तमाशा देख रहे थे और अचानक बोल पड़े..."अरे बहन की लौड़ी अब ये किधर जा रही है...?"

केविन: अब बर्थडे पार्टी शुरू होती है... अभी भाभी कैक लेकर आएगी.. समीर काटेगा...

फिर केविन फोन करने के लिए बाहर गया और हम चारो भाभी को ढूंढने लगे..

भाभी: अंदर मत आओ चले जाओ... तेजसिंह और रामपाल बुलाने आयेगे... बाहर जाओ...

हम वापस बाहर आये के केविन फोन ख़त्म कर के आया...

मैं: किसे फोन किया?
केविन: वो भाभीके निप्पल पे छेद करवाना है ना...
मैं: अरे वो भाभी ने बोलाना के भैया को पूछना पड़ेगा...?
केविन: वो पूछ लेगी... तू चिंता बहोत करता है...

रामपाल और तेजसिंह बुलाने आए... मालिक... भाभी राह देख रही है... जाइए...

हम सब जैसे आग लगी हो वैसे दौड़ पड़े और अंदर भाभी ऐसी मिली हमें...



वाह... कैक तो कट चुकी थी... बस खाना बाकि था... क्या नज़ारा था.. पुरे बदन पर केक लगा रख्खी थी... हम सब पांचो के पांचो भाभी पर टूट पड़े... मम्मो से लेकर होठ जीभ चूत पीठ जहा पर केक नहीं लगाई थी वह जगह हमने लगाई और हम फिर केक खाने लगे... भाभी को हम ने नाश्ता बनाया था.. भाभी के पुर बदन पे पांच पांच जीभ घूम रही थी... सब से ज्यादा लोगोने निप्पल चूस चूस कर केक खाई... मम्मे दो और आदमी पांच.. पर क्या करे... सब को यही रंडी चोदने के लिए चाहिए थी... और किसीसे बिस्तर गरम करवाना ही नहीं चाहते थे... मैंने देखा के दोनों बुढ्ढे दूर से देख रहे थे...

मैं: चलो भाई चाटे ही करेगे या चतवायेंगे भी?
केविन: जा थोडा साफ़ कर के आ...
भाभी: अरे रुक जाओ चेरी नहीं खानी? चलो एक एक करके मेरी चूत में आओ... अंदर पांच चेरी है... निकाल निकाल के बाट के खा जाओ...
राजू: साली ये तो मस्त आईडिया है...
भाभी: ये इन्ही दो बुढ्ढों का है...
केविन: हा क्या? तो फिर इन दोनों को केक खिलानी हैन?
भाभी: वैसे मैंने एक डोज़ दिया है.. मुझपे केक ये दो लोगो ने ही लगाई है और चूत में चेरी अंदर तक भी ये लोग ने घुसाई है.. फिर भी मालिक खा ले बाद में नौकर भी खा लेंगे... है न?
Reply
12-01-2018, 12:21 AM,
#26
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
दोनों ने हां में मुंडी हिलाई... हम ने एक एक करके भाभी के चूत से चैरी निकाल निकाल के खाई... जब हमारा पेट भर गया तब नौकरो को बुलाया और उसने भी चाट चाट के भाभी को साफ़ करके केक खाई... भाभी चटाई के दरमियान सिर्फ कहरती रही...

फिर भाभी उठी.. केविन ने बाद में दोनो नौकरो को इशारा किया... और वो भाभी को ले कर अंदर रूम में चले गए... दस मिनिट के बाद हमे बुलाया गया... मास्टर बैडरूम में आने के लिए... बैडरूम में भाभी हमे निचे इसतरह मिली



फर्श पर बंधी हुई...

केविन: आ.....ह वा....उ सोचा था उससे बेहतरीन नज़ारा है... तुजे आज रौंद के रहेंगे सब... आज क्या क्या होने वाला है समजा देता हूँ...

अब हमारे सामने पुरे दिन का हिसाब खुलने वाला था....

केविन: अभी आज भाभी हमारी स्लेव है, सबसे पहले तो समीर आज इनको रगड़े का अकेला ही क्योकि उनका बर्थडे है... बाद में बाकी काम निपटाएंगे... जा समीर शुरू होजा... हम बाहर जा रहे है... तु तेरा बर्थडे अकेले मना...

दूसरे तिन लोग मुह लटका के बाहर निकल रहे थे के केविन ने उसे कहा की

केविन: भाइओ कोई दुःख मत रखो सीने में... हमे और भी तैयार होना है... तो चलो आओ बताता ही क्या क्या करना है?

सब बाहर चले गए... रूम में मैं और भाभी थे जो फर्श पर पड़ी थी...

भाभी: मेरे पास आओ?
मैं: भाभी कुछ गलत नहीं हो रहा है न?
भाभी: ये हमने मिलके डिसाइड किया था... तो तू मन में ऐसा वैसा कुछ मत रख...
मैं: भाभी एक बात बोलुं?
भाभी: हा बोल?
मैं: भाभी आई लव यु...
भाभी: आई लव यू टू समीर... तू तो मेरा पहला प्यार है...
मैं: तो भाभी आज एक हवस की नज़र से नहीं में आपको एक पत्नी की नज़र से अपना बनाना चाहता हूँ... ये आक्रमक नहीं पर बिलकुल इन्टेन्स लव करना चाहता हूँ... तेरे बदन को मैं एक राजा की तरह भोगना चाहता हूँ... प्लीज़?
भाभी: चल ठीक है... तू तो ठंडा पड़ गया... मुझे लग रहा था के इस हाल में तू मुझे कुछ अलग ही इस्तेमाल करेगा...
मैं: वो तो कई बुरे ख्याल है ही मन में पर पहले इक मस्त इन्टेन्स सेक्स हो जाये? आपको तो पता होगा और क्या क्या प्लान होने वाला है, और कितनी देर तक हम इस कमरे में है?
भाभी: देख आज न.... आ....ह ऐसे हाथ ना घुमा बदन में कुछ होता है... सुन पहले... अभी बजे है कितने?
मैं: १२ बजे है..
भाभी: तो हम लोग डेढ़ बजे तक यही एक ही रूम मैं है... तू दो बार तो चोदेगा न मुझे...
मैं: हा जरूर...
भाभी: हां तो उसके बाद हम खाना खायेगे... खाना खाने के बाद तकरीबन २ बजे मेरे निप्पल में छेद करवाने के लिए बुलवाया है...
मैं: तुजे दर्द नहीं होगा?
भाभी: थोडा होगा... पर तेरे लिए कुछ भी... सुनना... ढाई बजे मुझे उनको फीस देनी है...
मैं: उनसे चुद के?
भाभी: हा... और फिर ३ बजे मेरा गैंगबैंग करोगे आप सब लोग मिलके... से लेकर शाम को ६ बजे तिन घण्टे में सिर्फ आपकी ही रहूंगी... और उसके बाद... केविन ने कुछ क्लाइंट आयेगे... तो उनके साथ भी सोना पड़ेगा... तो मान लो दोनों के एक एक घंटे बाद ८ बजे हम लोग खाना खाएंगे... और फिर दोनों नौकरो को फ़ीस देकर...
मैं: तू उनको भी चूत देगी?
भाभी: कितना ख्याल रखते है अपना.... उतना यो हक है न उनका? और फिर हम लोग घर के लिए निकलेंगे... ठीक?
मैं: निप्पल के छेद के बारे में भैया को क्या कहूँगी?
भाभी: मैं उनको ३-४ दिन से मना रही हूँ... तो आज मैं आप सब लोग पिक्चर देखने गए हो और मैं नहीं गई हु कह कर उनसे वापस जिद करके करवा लुंगी...
मैं: तू बहोत चालु चीज़ है... मैं तुजे छोड़ता हूँ.. पलंग पर चलते है...

मैंने भाभी को धीरे धीरे छोड़ा और फिर उनको फर्श से उठाया और मैंने गोदी में उठाया.... और धीरे धीरे पलंग पर उसे पटक दिया तो भाभी ने हस के मुझे यूँ देखा...



और फिर मुझे उकसाये गई... भाभी ने उठकर मुझे अपनी और खीचा मेरे शर्ट से... हलके हल्के मेरे शर्ट के बटन खोलने लगी... और धीरे से भाभी ने मेरा शर्ट निकाल दिया... भाभी ने मुझे अपने ऊपर ला कर अपने पैर चौड़े कर दिये तो मैं उन के बिच अपनी गांड खीसा कर अच्छे से चढ़ गया... भाभी पूरी नंगी और और मैं आधा... हम दोनों ने तकरीबन १० मिनिट तक इन्टेन्स किस किया और फोरप्ले करते रहे... उस टाइम तक भाभी ने मेरा पेंट और मेरा निक्कर भी हटा दिया... मैं भाभी के पुरे बदन को एक पति की तरह हक़ जता रहा था... इतनी बार की हवस के बाद ये पहला प्यार वाला सेक्स था... भाभी ने भी वासना का शिकार न होते हुए मुझे बहुत ही सिडक्टव ब्लो जॉब दी...



ब्लॉ जॉब ख़तम होते ही, भाभी मेरे ऊपर आ गई... हम एक दूसरे को उतना इन्टेन्स लगे हुए थे के बिच में कोई हवा का आना जाना मुमकिन नहीं था... मेरे लिए भाभी अपने मन को मार कर खूब अच्छे से मुझे सपोर्ट कर रही थी... तो मैंने उनके मन को खुश करने के लिए... अचानक करवट बदले भाभी को निचे लेकर उसके चूत को लिक करने लगा... कुछ ऐसा किया जो भाभी को खुश कर गया... मैंने भाभी के दाने को अपने दातो से खीच कर थोडा काट लिया... अब ये आलम था के नाही मुझसे रहा जा रहा था नाही भाभी से... भाभी ने मेरे मुह को खीच कर मुझे लण्ड से पेल ने के लिए आमंत्रित किया...

मैं इतनी इंटेंसिटी से भाभी पर पड़ा के भाभी के मम्मे को थामते हुए मैंने अपने आपको भाभी को लेंड किया... भाभी का मम्मा थोडा खीच गया... भाभी ने जोर से आउच किया... ये एक अचानक भाभी के लिए सुखद अनुभव था... अब मैं भाभी के ऊपर प्रोपर था और मेरे मुह से भाभी के मुह में और उनकी मेरे मुह तक हांफने की गरम साँसे इतनी तेज़ महसूस रही थी की हम एकदम गरम कर रही थी... भाभी और मैंने एक दीर्घ चुम्बन चालू किया... जो धीमे धीमे मेरे लण्ड को भाभी के चूत को चीरता धीरे धीरे एक दो धक्को में घुसाता चला गया... भाभी के हाथ को मैंने पकड़ के रखा था.. भाभी और मेरे होठ एकदूसरे के अंदर जाने को बेताब थे और मेरा लंड अब चूत को चीरे अंदर तक घुस गया... भाभी और मैंने एकसाथ किस तोड़कर आह के साथ एकदूसरे को और करीब खीचने लगे... भाभी ने पूरा साथ देकर अपनी गांड को थोड़ा थोड़ा ऊँचा करके मुझे बराबर साथ दे रही थी... इसी पोज़िशन में हम बिना किस तोड़े... बिना हाथ को छोड़े करीब १५ मिनिट तक सेक्स करते रहे... और अचानक भाभी ने किस तोड़कर थोडा अग्रसेन होते हुए... जोर जोर से चिल्ला ने लगी और फिर ढेर हो गई... पर मेरा खलास होना अभी बाकी था... मैं ये हिस्सा अभी और देर तक चलाना चाहता था... मेरे हाथ भाभी को छोड़ दिए तो हाथ मैंने भाभी की कमर पर हाथ चलाना चालु रखा... मुह मेरा भाभी के मम्मो पर किस करता... निप्पल को हल्का हल्का खीच रहा था... जीभ घुमा रहा था... और धीमे धीमे मेरे हाथ भाभी के कुल्हो तक लेकर उसे खुद ऊँचा करने लगा... क्योकि भाभी खलास होते ही उनके धक्के कम हो गए थे... मैं लण्ड को अंदर बाहर करता ही रहा... लण्ड से पेलना चालू रखा तो भाभी वापस मेरे साथ देने दो मिनिट में तैयार हो गई... वो फिर मुझे साथ देने लगी... आज भाभी सही में मेरा बिस्तर गरम कर रही थी... क्योकि पूरा बदन भाभी का गरम गरम था... भाभी को पसीना आया था... तो हमारा बिस्तर गरम हो चूका था..

मैं और भाभी जैसे आपको बताया के हम एक दूसरे को भोगने में लगे थे... मैं इंटेंसिटी में भाभी को कई जगह काट चुका था... और वो भी... हम एकदूसरे को समझ ही नहीं पा रहे थे... पर हां हम दोनों ने ये तय किए अनुसार एकदम रिलेक्स सेक्स करना चाहा था... वो हो रहा था... भाभी फिर से अकड़ ने वाली थी के मैं रुक गया.. क्योकि बहोत धीरे धीरे हो गया था... मेरा लण्ड भी कभी भी भाभी के चूत को मेरे वीर्य से भरने वाला था... आदमी उत्तेजना में कुछ भी कर सकते है... ये पता तब ही लगता है जब आप जड़ने पर आने वाले हो... मैं जैसे रुका भाभी का ध्यान डाइवर्ट हुआ...
Reply
12-01-2018, 12:21 AM,
#27
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
भाभी: क्या हुआ... प्लीज़ अभी मत रुको... मैं जड़ने वाली हूँ...प्लीज़....
मैं: भा...भी... मैं भी चल बहोत हो गया स्लो स्लो... आ एकदम रफ करते है... तुजे पसंद है वैसा ही करते है...
भाभी: क्यों जड़ने वाला है क्या मेरा शेर?
मैं: हां भाभी मुझे बच्चा चाहिए.. आज के दिन के लिए दवाई मत लेना...
भाभी: ठीक है... मैं तुजे बच्चा दूंगी.. पर अब आ चल रफ सेक्स कर... मुझे चोद...

और फिर भाभी को मैंने बराबर घबघब पेलने लगा... लंड टोपे तक बाहर निकलता और अंदर घप करके डाल देता... भाभी हर धक्के पर आह आह करके चिल्लाती...

भाभी: आ.... ह और... आउच.... आ....ह और .... हा इससे.... आ....ह और जोर से....

अब तो लंड को कुछ ऐसे धक्के मार रहा था के मानो मैं या तो लण्ड को गांड से निकाल ने की कोशिश कर रहा था... या पेट में अंदर घुसाने.... मैं अकड़ गया... मुझे कुछ होश नहीं था... ना ही भाभी को और फिर एक जबरदस्त धक्का मार कर मैंने पूरा वीर्य अंदर तक घुसा दिया... उसी वखत भाभी भी जड़ गई... हम दोनों इन्टेन्स एकदूसरे को लगे रहे पर मैंने बहोत तेजी से घप करके लण्ड बाहर निकाला... समय बरबाद न करते हुए... मैंने भाभी के मम्मे पर जल्दी से एक चपत ज़ड दी और फिर तुरन्त उसे उलटी कर दी... और गिला गिला मेरा लंड भाभी के गांड के छेद पर रख दिया... मेरा लंड कड़क था... और भाभी के लचकिले बदन से आती पसीने की खुशबु मुझे बेक टु बेक ठोकने की ताकत दे रही थी... मैंने लंड को डाला फिर गांड में थोड़ी तकलीफ हुई तो भाभी ने अपना थूक लगाया... मैंने भी ढेर सारा थूक लगा कर एक ही झटके में अंदर डाल दिया... भाभी मुझे मैं जो भी करू पूरा सहयोग दे रही थी...

जैसे ही मेरा लण्ड पूरा गांड में समा गया के...

भाभी: समीर अब तू पूरा मुज पर आजा...
मैं: तेरे ऊपर ही तो हु...
भाभी: ऐसे नहीं, तेरे बदन का पूरा भाग मेरे ऊपर... मेरे पैरो पर तेरे पैर और तेरे हाथ मेरे हाथ पर... तेरी छाती मेरे पीठ पर सटकाये तू मुज पर आजा... अगर....
समीर: नहीं मैं अपने हाथ तेरे स्तन पर रखूँगा...
भाभी: हा तो ऐसे कर... तब तो अच्छा है, मेरे मम्मे पुरे दब जायेंगे... कर...

मैंने बिलकुल ऐसे ही भाभी पर सट गया... भाभी ने अपने पैर ऊपर किए घुटनो से... ताकि मैं भाभी को जटके मारने का जोए उनके खड़े पैरो से लाउ... भाभी के मम्मे मेरे हाथ में थे... वो भाभी को मैं अपनी और खीचने में मदद कर रहे थे... पर मुझे इतना मज़ा नहीं आ रहा था क्योकि मुझे पसीने से लथपथ पीठ को चूमने के अलावा कुछ काम नहीं था.. तो मैंने हलके से अपनी पोसिशन चेंज की और भाभी के मुह को अपनी और और कर के किस करने लगा...



भाभी भी मुझे पूरा सहयोग दे रही थी... अब मेरे हाथो को दो मम्मो के बिच आज़ाद घुमा पा रहा था... अपने हाथो के साथ... भाभी के छाती पर अपना हाथ मसल रहा था... और फिर मैं बहुत ही जल्दी इस पोज़िशन में ज़ड गया... ये मेरा बेक टू बेक दूसरा ऑर्गेसम था... मुझमे और भी हिम्मत थी... लण्ड सुकड़ जाये उनसे पहले... जल्दी गांड से लण्ड धप से निकाल कर भाभी के मुह में लण्ड दे दिया... मैंने आखरी बुँदे दूसरे ऑर्गेसम की मुह में निकाली... अब लण्ड की पकड़ काफी ढीली हो गई थी... भाभी के मुह में तो बहोत आसानी से चला गया अंदर तक... भाभी तो मुह चुदाने के लिए रेडी थी पर अब मैं हिम्मत खो गया मैं... लण्ड सिर्फ साफ़ कराके मुह से लण्ड निकाल कर पलंग पर पड़ा रहा... हम दोनों की साँसे एकदम चल रही थी... दोनों हाफ रहे थे... भाभी तुरंत मेरे सीने पर आकर मुझे गले लगा दिया... हम हांफते हुए बात कर रहे थे...

भाभी: आज तो दो बार बेक टू बेक...
मैं: अरे मुह भी चोदना था...
भाभी: कोई बात नहीं दस पंद्रह मिनिट के बाद...
मैं: भाभी मुझे तेरे मम्मे से दूध पीना है... तू माँ बन जा ना...
भाभी: अरे अरे अभी तो मैंने जिंदगी जीने का शुरू ही किया है और तू मेरा पेट फुलाने पर क्यों तुला हुआ है?
मैं: भाभी यही गिफ्ट मुझे चाहिए अगर इस बर्थडे पर कुछ मुझे देना है तो...
भाभी: ह्म्म्म्म पर कैसे होगा...
मैं: क्यों? क्या कैसे होगा? दवाई मत लेना एयर मुझे तेरी चूत में वीर्य निकाल ने देना और क्या?
भाभी: अरे बुध्धू तेरे दोस्त भी तो चुदाई करते है.... और अब तो बिच बिच में और कोई भी आ सकता है...
मैं: ह्म्म्म पर भाभी सब के ले लेना न... किसीका भी हो क्या फरक पड़ता है? मतलब कुछ नहीं... बच्चा चाहिए... मुझे मम्मो से दूध पीना है तो उसके लिए तुजे पेट फुलाना पड़ेगा... तो फुला ले...
भाभी: हा हा हा... चल ठीक है... नेक्स्ट मंथ...
मैं: क्यों?
भाभी: अरे नेक्स्ट वीक मेरा पीरियड स्टार्ट होगा... सबके लिए वेकेशन... मुझे भी तो चाहिए चार दिन शांति...
मैं: ह्म्म्म तो प्लान बनाते है... सबको बोल देते है और फिर जो जीत गया वही सिकंदर...
भाभी: चल ठीक है... तेरे भैया भी मुझे बच्चा बच्चा कर रहे थे... हो जायेगा...
मैं: गुड गुड... भाभी अभी ये खड़ा नही होगा लग रहा है... बुला लूँ सबको?
भाभी: हा बुला ले...

मैं नंगा बाहर को निकल के सबको बुलाने गया... और बोला के मैं थोड़ी देर आराम कर रहा हूँ जिसको भाभी पे चढ़ना है वो जाए... सब भूखे थे कौन मना करेगा? सब भेडिए अंदर रूम में भागे... भाभी पलंग पर नंगी पड़ी थी... नंगी भाभी को देख कर... सब लोग अपनी हवस को शांत करने भाभी के आसपास आ गए... भाभी सबको मादक स्माइल दे रही थी... पलंग पर नंगी अकेली भाभी... और आजूबाजू चार जवां मर्द अपने कपडे को खोल रहे थे... भाभी भी किसी ना किसी को कपडे उतरने में हेल्प कर रही थी... सब के हाथ भाभी पर चल रहे थे...

केविन: क्यों? तुजे तो कुछ और पसंद था... पलंग पर कैसे पहोंचे?
भाभी: अरे समीर को जो पसन्द है वो देना पड़ेगा न... उसे इन्टेन्स सेक्स चाहिए था... तो हमने वैसा किया...
राजू: भाभी हम तो नहीं करेंगे... हमे तो रफ चाहिए... क्यों भाइओ?

सब ने हां बोली, भाभी खिलखिला उठी... ये सब लोग अंदर अंदर बाते कर रहे थे और मैं सामने सौफे पे पड़ा था... तब अंदर दोनों नौकर आये... मैं नंगा था... और वो लोग कपडे पहने हुए थे... मुझे पहले थोड़ी शर्म आई पर फिर उन लोगो को सौफे पे बुला लिया... और मैं अपने सुकडे हुवे लौड़े को छुपाने के लिए पैर पे पैर रख के बैठा। वो मेरे पास आके बैठे और अंदर अंदर बाते कर रहे थे वो मैं सुन रहा था...

तेजसिंह: क्या माल है नहीं? पूरा साथ देती है... कुछ ना नुकुर नहीं।
रामपाल: हा यार चूत मैं चैरी डालने दिया, तब ही चूत की गर्माहट नाप ली थी मैंने... क्या अदा है इस छिनाल की...
तेजसिंह: बस चुदने मिल जाए...
रामपाल: हा केविन सर बोल रहे थे, हमे एक घंटे तक ये औरत मिलेगी चुदने... तब सब हेकड़ी निकाल देगे साली की...
तेजसिंह: तू शर्त लगा ले... ये सब पे भारी पड़ रही है... हम पे भी भारी पड़ने वाली है...
रामपाल: पहले आने तो दे बिस्तर पर...
मैं: अरे मिलेगी आप लोगो को भी मिलेगी... क्यों टेंशन लेते हो...
रामपाल: वो मालिक रहा नही जा रहा...
मैं: हा हा हा... क्यों लड़की नहीं चोदी क्या इस से पहले?
रामपाल: अरे मालिक ऐसी रंडी कहा हमारे नसीब... वैसे बहोत पैसे लिए होंगे न? हमारे हिस्से के भी आप देने वाले हो?
मैं: अरे रामपाल ये मेरी.... (मैं रुक गया) तुम एन्जॉय करो न... पैसा पैसा क्या करते हो?
तेजसिंह: कब आयगी मेरे निचे अब रहा नहीं जाता...
मैं: पहले मालिक खाले बाद में नौकर की बारी... चलो अब देखो तमाशा चुपचाप...
Reply
12-01-2018, 12:21 AM,
#28
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
अब उधर चलते है...

केविन: कुतिया मुझे पहले सोने दे... तू मेरे ऊपर आजा अपनी गांड में लंड लेकर बैठ जा... सचिन तेरी चूत में डालेगा...
भाभी: करना तो मुझे भी है पर डर लग रहा है... दो एकसाथ...
सचिन: भाई केविन तेरा घुसने के बाद चूत तो सुकड नहीं जायेगी इनकी? फिर मैं कैसे डालूँगा...
केविन: अबे चुत्ये ये चूत है चूत... और लड़की की है... गांड और चूत दोनों पैल दे... कोई फरक नहीं पड़ेगा...
भाभी: नहीं नहीं पड़ेगा आहिस्ता करना...
केविन: चुप मादरचोद... तू रंडी हो के बोल कैसे सकती है?
भाभी: अरे मालिक मैं तो बस थोडा घबरा रही हूँ... अभी ट्रिपल पेनेट्रेशन भी करना ही है... पर डर हो रहा है बता रही हूँ...
केविन: चल बक मत और आजा मेरे लौड़े पर...

भाभी मेरी चुदाई के बाद थकी हुई तो थी, पर ये आलम वो गुज़र ने नहीं देना चाहती थी... भाभी खड़ी हुई और केविन अपने पैर फैला कर लण्ड को हवा में ताने सो गया... भाभी का मुह केविन के और था...

केविन: अगर रंडी तू मेरी और देखेगी तो सबको मज़ा नहीं आएगा... घूम जा...

भाभी घूम गई और अपनी गांड को केविन के और कर के बैठ गई... केविन अपना लण्ड और भाभी अपनी गांड ठिकाने लगाने में व्यस्त थे और बाकि के भाभी के मम्मे मसले जा रहे थे... कुमार तो अपना लण्ड निकाले भाभी के मुह में अपना घुसाने में लग गया... पर भाभी इन सबका ख्याल रख रही थी अच्छे से... भाभी को गांड में लण्ड लेने में तकलीफ जरूर हो रही थी... पर एक उत्साह था मन में वो करने के लिए धीरे धीरे गांड में लंड समा लिये केविन पर अपनी गांड टिका के बैठ गई... अब पूरा लण्ड भाभी की गांड में था... और केविन ने भाभी को ऊपर खीच लिया.... भाभी की गांड थोड़ी स्ट्रेच हुई तो आउच करके केविन की छाती पर अपनी पीठ टिका दी... अब केविन हल्का हलका लण्ड अंदर बाहर कर रहा था और कुमार का तो लण्ड बाहर निकल जाने की वजह से गुस्सा होके भाभी के मुह पर चमात मारते हुए गाली बके जा रहा था...

कुमार: छिनाल कही की, तुजे डीप थ्रोट देना पड़ेगा...

कुमार तुरंत ही भाभी के मुह को पीछे से निचा कर दिया मतलब के केविन के कंधे से निचे और पीछे से भाभी के मुह में लण्ड घुसाने लगा... भाभी का मुह थोडा जैसे निचा गया के भाभी की छाती और ऊपर बड़े बड़े स्तन ऊपर उछल पड़े... राजू ने इसका फायदा उठाते हुए भाभी के मम्मे के बिच अपना रख के भाभी के स्तन से अपने लण्ड को भीच के निप्पल को पकडे हुए करने लगा... भाभी के ऊपर ही बैठ कर वो ऐसी चुदाई करने लगा... अब सचिन ये सब देख रहा था और उनके पास एज छेद पड़ा था घुसाने को... पर ये सब पहली बार हो रहा था सब के लिए...

केविन: मादरचोद मेरी रण्डी ज़रा एक लौड़े का इंतेज़ाम करना है... चूत को फैलाओ ज़रा सा...

भाभी के मुह में लण्ड ठूसा था तो वो तो जवाब देने से रही.... पर उनके हाथ राजू के पैरो के आसपास से निकाल के निचे गए और फिर भाभी ने अपनी चूत थोड़ी फैलाई... सचिन ने चूत पर अपना लण्ड रख्खा... और धीरे धीरे चूत के होठ पर लण्ड का टोपा रगड़ रहा था... भाभी से शायद रहा नहीं गया और लण्ड को पकड़े चूत के छेद पर लण्ड घुसा कर सचिन के पैरो को खिचने लगी... सचिन ने भी फिर हल्का धक्का मार के चूत में लंड का टोपा घुसा दिया...

सचिन: भाभी आपके लंड होने का अहसास हो रहा है...
केविन: देख जब हम इसे रगड़ना चालू करेगे तब हमारे इस लण्ड को जो प्रेशर मिलेगा... आह.. चल घुसाना अभी इनको रगड़ना भी है... भाइओ एकसाथ वीर्य निकालेंगे ओके?

सचिन ने जोर से और एक धक्का मार के लण्ड का चूत से मिलन करवाया... केविन भाभी को गले से पकड़ करके कुमार के लण्ड को महसूस कर रहा था शायद...

सब अब अपनी जगह पर सैट हो चुके थे... अब टाइम था... गाडी को पटरी में लेके पैल ना... अब स्लो मोशन का टाइम गया.. सब ने रफतार बढ़ा दी... भाभी के मुह में कुमार का लण्ड, कुमार के हाथ भाभी के सर पर ताके अच्छे से सेट कर के लण्ड को गले के अंदर तक पैल सके... भाभी में मम्मे राजू चोद रहा था... निप्पल को राजू खिचे हुए लण्ड को छाती पर चला रहा था... भाभी की गांड में केविन का लण्ड और भाभी के हाथो में उनके हाथ फंसे थे... सचिन का लण्ड भाभी की चूत में और भाभी के पैरो उनके हाथ में थे... तकरीबन ऐसे ही चारो जन अलग अलग जगह बदलते हुए बिस मिनिट तक चोद चोद कर थक गए पर भाभी के चहेरे पर सिर्फ ख़ुशी... सब एक के बाद एक करके चूत में ही जड़े क्योकि सबको चूत मैं ही जड़ना था...

सब भाभी के इर्द गिर्द पड़े हुए थे... भाभी पसीने से लथपथ थी... पर चहेरे की ख़ुशी कुछ अलग ही बयान कर रही थी... साली की चूत में इतनी गर्मी? के अभी भी थकी नहीं थी... चारो पे वो भारी पड़ी थी... चारो लोग थक गए थे... पर भाभी... बिच में खड़ी हुई...

भाभी: समीर, तू आ रहा है क्या?
मैं: नहीं भाभी अब खाना खाने के बाद...
भाभी: तो मैं किचन जाती हूँ इन दोनों को लेकर... हम लोगो अब मस्ती मारेंगे... हम? आएंगे ने आप?

भाभी मादक अदाओ से रामपाल और तेजसिंह को बुला रही थी... दोनों जीभ बाहर निकाले कुत्तो की तरह देख रहे थे... भाभी गांड मटकाती हुई बाहर निकली और वो दोनों पीछे पीछे उनके निकल गए... मेरे दोस्त पलंग पर पड़े थे और मैं किचन में गया देखने के क्या पक रहा है वहा...

भाभी: रामपाल जी और तेजसिंह जी ... आप खाना बना लिए हो?
रामपाल: आप आप मत करिए न... तू से ही बुलाइए न? मुझे रामु...
तेजसिंह: और मुझे तेज...
भाभी: हा हा हा ठीक है... तो मुझे भी आप आप मत करिएगा... भाभी ही बुलाना, गाली देने का मन करे तो दे देना... मन में कुछ मत रखना...
तेज: जी भाभी.... वैसे हमारी बारी कब आएगी?
रामु: फिर तो आप थक जाएगी...
भाभी: हा हा हा ... टेंशन मत लो... मैं थकाने में माहिर हूँ... थकती नहीं... नहीं देखा क्या मुझे पलंग पर... चार चार जवान लंड कैसे चित कर दिए....

भाभी पसीने से पथपथ थी... भाभी किचन में जाके पहले अपने हाथ धोए... और फिर खाने का सामान देखने लगी... सब रेड़ी हो कर ही भाभी की चुदाई देखने आए थे... वो तो भाभी चुदने मिलने वाली थी इसीलिए नंगी खड़ी थी फिर भी दोनों चुपचाप देख रहे थे...

भाभी: सब रेड़ी तो है... तो मेरा क्या काम है?
रामु: भाभी वो थोडा मस्ती करनी थी...
तेज: ज़रा हलके होने में मदद करो ना...
भाभी: हा हा हा... इसीलिए कहूँ के मामला क्या है.... पर मैं तुम लोगो के साथ कुछ अलग करना चाहती हूँ... क्या बस ठुकाई ही करना चाहते हो? शादी हुई है किसी की?
तेज: अरे शादी नहीं हुई है हम में से किसी की पर शादी मनाई काफी बार है... पर ऐसी शादी नहीं कभी नहीं मनाई जो सामने खड़ी है...
रामु: अब रहा नहीं जा रहा थोडा तो रहम कर दो... क्या अलग करने वाली है तू?
भाभी: वो सिर्फ मुझे पता है... चलो अभी खाना परोसना है...
तेज: कुछ कपडे पहन लो... वर्ना तुजे कोई खाने नहीं देगा...
भाभी: पहन तो लूँ... पर नंगी ही करेंगे बाद में... खाना खाने के टाइम ये कोई वैसे भी शांति से नहीं बैठेगा...

सब हँसने लगे... पर भाभी को एक मस्त एप्रन ये दोनों नौकरो ने दिया... जो लाल रंग का था... भाभी के गोर बदन पर जच रहा था... भाभी ने पहन लिया... तो पीछे से पूरी नंगी... और आगे से मम्मे ढके हुए थे...

रामु: भाभी मम्मे बाहर रख्खो न...
भाभी: तूम लोग को जो करना है आके कर दो... कभी ये कभी वो...

एप्रन से हलके से एक मम्मा बाहर निकाल लिया... भाभी के मम्मे को हल्का सा दबा के निप्पल को चुपके से छु लिए... दोनों भाभी को छूने का कोई भी चांस नहीं छोड़ रहे थे...

भाभी: नंगी ही तो रख्खी हे मुझे... क्या ढका है इसमें? अब ठीक है? खाना गरम करू? सब छुने के बहाने है... जानती हु... आएगी सब की बारी आएगी सबर करो...

और सब हँसने लगे... गरम भाभी खाना गरम कर रही थी, और वो भी सबके बिस्तर गरम करते हुए... कुछ नज़ारा ऐसे दिख रहा था...
Reply
12-01-2018, 12:21 AM,
#29
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
भाभी को दोनों नोकर टुकुर टुकुर देखे जा रहे थे... साला लड़की पटाने में कितना टाइम जाता है... और यहाँ एक माल खुद चुदवाने के लिए उकसा रही थी... दोनों के पेंट में लण्ड एकदम अकड़ कर बाहर आने को बेताब था.. पुरे घर में सिर्फ वही दो कपडे पहने हुए थे... बाकी सब नंगे घूम रहे थे... भाभी बाहर निकल ने को थी के...

भाभी: तुम? तुम क्या कर रहे हो यहाँ?
मैं: अरे मेरी जान देख रहा था के हम लोगो के लिए सजाने में ये दोनों कोई कसर तो नहीं छोड़ रहे है?
भाभी: नहीं नहीं कोई कसर नहीं छोड़ रहे है... तुम लोगो को उकसाने कपडा पहना कर मम्मा खुल्ला छोड़ दिया है...

हसकर भाभी ने दोनों ने सामने आँख मार दी...

भाभी: चलो खाना खाने चले?
मैं: भाभी मुझे लगता है की दोनों को बहोत अच्छा गिफ्ट मिलना चाहिए... हमारी खातिरदारी मैं कोई कसर नहीं छोड़ रहे है...
भाभी: अच्छा? तो चुदवा तो रही हूँ बाद में और क्या करू?
मैं: भाभी मैं चाहती हु के दोनों को आप बाद में कहा नसीब होगी... आज इन लोगो को खाना खाने के बाद खुश कर दो...
भाभी: हा तो करने तो वाली हूँ...
मैं: ऐसे नहीं... तेरा बदन इन दोनों को शांति से अकेले मसलने दो... दोनों अकेले अकेले तेरे इस नाजुक बदन पर चढ़कर तुज से सुखी होंगे तभी जाकर इन दोनों को संतृप्ति मिलेगी... क्यों भाई लोग... हम लोग तो इसे एक एक पूरा दिन घिस चुके है... आपको एक बार तो मौका मिलना चाहिए...?

भाभी ने बड़ी शरारत से मेरी और देख कर उन दोनों को देखा... दोनों भाभी के हां बोल ने का इंतज़ार कर रहे थे भूखी नज़रो से...

भाभी: चलो ठीक है... वो केक वाला भी मुझे अकेले ही मुझसे मज़ा लेके गया... इनको भी मिलना चाहिए...
मैं: हा पर जिसको देखना है वो देख सकेगा...
भाभी: नहीं तू आ सकता है... तेरा बर्थडे है... पर दूजा कोई नहीं...
मैं: भाभी बाकी के लोग मानेंगे?
भाभी: अरे क्यों नहीं वो लोग तो कल भी आ सकते है...
मैं: मेरी जान बहोत चुदक्कड़ हो गई है तू... ठीक है... तो बता देना सबको...

सब नंगे खाना लेकर टेबल पर बैठ गए... मैं दोनों नोकरो की हालत देख रहा था... बेचारे कब खाना ख़तम हो उसकी राह देख रहे थे... भाभी को हमने खाने के टाइम बिलकुल अलग नहीं किया... भाभी यो टेबल के निचे बिठाया... ताके उनको पांच लण्ड खा ने को मिले... सब मम्मे को दबा रहे थे और खाने के टाइम भाभी सब के लण्ड चूस भी रही थी.... टेबल की निचे से भाभी को बाहर निकाल के भाभी के गोरे बदन पर खाना लगा कर चाट चाट के भी खाया... भाभी भी सबके लण्ड पर कुछ न कुछ लगा कर खा रही थी... सब ने वीर्य उनके खाने पर छोड़ा जो भाभी ने बड़े ताव से खा लिया...

भाभी सब बर्तन ले कर धो ने के लिए जा ही रही थी...

केविन: ओ रंडी निप्पल पर छेद नहीं करवाना क्या?
भाभी: पर अभी मैं बर्तन धोउंगी...
केविन: ये दो किस काम से है तो?
भाभी: नहीं अभी ये दोनों कुछ तैयारी करेंगे... और मैं उन दोनों का अकेले बिस्तर गरम करने वाली हूँ...
केविन: अरे पर प्लान...
भाभी: देखो अब मुझसे उनको और नहीं तरसा जा रहा प्लीज़ ये दोनों को भी मेरा शरीर मिलना चाहिए..
केविन: हा तो ओये रामपाल तेजसिंह आधे घंटे में चढ़ के उतर जाना... और हलके होते ही भेज देना... मिल बाँट के खा लेना...
भाभी: अरे नहीं नहीं... ऐसे क्यों? दोनों अकेले अकेले ही मुज पर चढ़ेंगे... भले एक दो घंटे बीत जाए...
केविन: माँ चुदवाने प्रोग्राम बनाया था? हम ने भी तो बिस्तर गरम करवाना है तुजसे...
भाभी: अरे ये लोग थोड़ी घर पर आएंगे मेरे... आप लोग तो अब कभी भी आ जाया करेंगे...
केविन: चल ठीक है... ओये रामपाल और तेजसिंह... अच्छी तरह निचोड़ लेना... बाद में ऐसी रंडी हाथ नहीं लगेगी और हा... आज के दिन भी हाथ नहीं लगेगी... बाद में काफी और कस्टमर है... तब भूखी नज़रे नहीं चाहिए आप लोगो की ठीक है?
दोनों: जी मालिक बहुत बहुत धन्यवाद...
तेजसिंह: मालिक भाभी को हम अपने अपने कमरे में ले जाकर...
भाभी: अरे उनसे क्या पूछना हा चलो बर्तन साफ़ कर के मैं तुम्हारे रूम् में आ जाउंगी...
केविन: चलो भाइओ हम लोग बाहर घूम के आते है.. आप लोगो ने वैसे भी ये फार्म हॉउस तो देखा नहीं तो मैं दिखा दू...
मैं: मैं यहाँ भाभी को चुदते देखूंगा... आज मेरा बर्थडे है तो मैं भाभी को मेरी नज़रो से दूर नहीं करूँगा...

सब ठीक है कर के चले गए... मैं किचन देख रहा था... तीनो मिलकर डिसाइड कर रहे थे के पहले कौन भाभी पे चढ़ेगा...

भाभी: देखो अभी मैं आप दोनों की हूँ... अगर मेरे बदन पे हक़ जताते हुए बात नही करोगे तो मज़ा नहीं आएगा... थोडा तो अपनापन लाओ... थोडा बेशर्म बनो... मैं कैसे नंगी खड़ी हूँ आपके सामने शर्म को दूर कर के... चलो गाली बको या जो पसंद है वो करो...
तेज: ठीक है... अभी तू मेरे निचे आएगी तब बताउगा के मैं क्या चीज़ हूँ.. पूरा अपनापन लाऊंगा..
रामु: अबे लौड़े तेरे निचे क्यों साले पहले मेरे निचे आएगी... है न भाभी...?

दोनों अंदर अंदर लड़ पड़े के भाभी को पहले कौन चोदेगा... भाभी ने दोनों को शांत किया...

भाभी: रुको रुको दोनों को मिलने ही वाली हूँ... तो किस बात की लड़ाई?
तेज: अरे फिर थका हुआ माल मुझे नहीं चाहिए...
रामु: तो लौड़े मुझे भी नहीं चाहिए...
भाभी: रुको... तो तुम लोगो को मैं वैसे भी सुबह से लगातार चुदी हुई ही मिलने वाली हूँ तो फिर जाने दो मुझे क्या...? बाकी तुम दोनों की मर्जी मैं भले ही कितनी भी ठुक जाउ पर निराश किसीको भी नहीं होने दूंगी... सुख एक जैसा ही मिलेगा...
मैं: अरे ये लो सिक्का हेड या टेल कर लो...

हमने भाभी के लिए हेड टेल किया जिसमे रामु जित गया... और रामु के साथ भाभी रामु का बिस्तर गरम करने चली गई... तेजसिंह को बाहर वेट करने को बोला और मैं अंदर रामुके रूम् में जा ही रहा था के भाभी को मैंने बुलाया...

मैं: भाभी मस्त मॉल हो कर जाओ न?
भाभी: अभी पूरी नंगी होकर तो जा रही हूँ...
मैं: अरे मस्त लिंगरी ऊपर पड़ी है... मुझे केविन ने बताया था...
भाभी: ठीक है चल लेकर आते है...
रामु: अरे किधर चली छिनाल अब... लण्ड अब बहोत परेशान कर रहा है, मादरचोद...
भाभी: जा तू बिस्तर पर बैठ मैं अभी आई दस मिनिट में तेरे निचे आती हूँ...

हम दोनों ऊपर गए... केविन के रूम में... उसमे कुछ कपबर्ड पड़े थे उसे खोल के देखा तो काफी लिंगरी दिख रही थी... हमने कुछ निकाल के देख रहे थे पर फिर मुझे एक लिंगरी पसंद आई और फिर वो ये थी...



और फिर हम रूम मैं आये रामु के...

रामु: अरे मादरचोद ऐसे कपडे पहनोगी तो अभी खलास हो जाउगा... हमने तो डीवीडी में देखा है... जो रंडिया होती है...
भाभी: तो मैं भी तेरी रंडी ही तो हूँ...

भाभी उनके पास गई... रामु भाभी के बदन पर हाथ घुमा रहा था...

रामु: साला ऐसा तो सनी लियोन का भी नही होगा बदन कितना मखमली है... आज तू मेरी हैं.. मुझे नंगा कर...
भाभी: खड़ा हो जा...
रामु: साली मुझे खड़ा होने को कहती है.. मादरचोद ऐसे निकाल सकती है तो निकाल वर्ना नहीं मज़ा आएगा...
भाभी: नहीं मज़ा आया तो क्या करोगे?
रामु: भोसडीकि... साली गांड मार लूंगा...
भाभी: वो तो तू ऐसे भी मारने ही वाला है... नहीं मरेगा क्या?
रामु: मादरचोद... मारूँगा यहाँ वहा चपत...
भाभी: (बड़े ही शरारती अंदाज़ से) तो मार न... एक तरफ से रंडी कह रहा है... और एकतरफ रंडी की तरह इस्तेमाल नहीं कर रहा...
रामु: देख भारी पड़ेगा... ये मेरा शरीर खेत में काम किया हुआ मजबूत है... भारी पड़ेगा अगर खुल्ला सांड बनाया...
भाभी: अरे बाते करना छोड और सही औकात दिखा तेरी....
रामु: समीर मालिक, देख लेना आपके सामने चेतावनी दी है... भीच डालूँगा एकदम...
मैं: अरे तुज में है उतनी ताकत लगा... कौन किसपे भारी पड़ता है देखना है.. एक खेत में कसा हुआ या एक नाजुक कली जैसा बदन....
Reply
12-01-2018, 12:22 AM,
#30
RE: Antarvasna kahani हर ख्वाहिश पूरी की भाभी �...
भाभी ने देर न करते हु फटक से रामु के कपडे अगर को उतारने के लिए... रामु के मुह में अपना मुह लगा कर किस करने लगी... कितना भी भारी हो... रामु इस मधमीठे होठ में सब भूल गया... भाभी ने होठ थोड़े दूर किये की रामु उसे और चूसने नजिक जाने उठने लगा... और फिर रामु जैसे ही खड़ा हुआ उसे किस करते करते नंगा कर लिया...

भाभी: देख लिया तेरा खेत वाला बदन... एक किस पर पिघल गया...
रामु: साली रंडी होकर जबान चलती है तेरी?

रामु ने भाभी के मम्मे पर जोर से चाटा मार कर अपने मर्द होने का और ये बदन पर उनका हक़ जताया... रामुने जट से भाभी की लिंगरी खोलनी चाही... पर जल्दी जल्दी में फटने की आवाज़ आई... तो वो रुक गया...

भाभी: अरे रुक क्यों गया?
रामु: तेरे कपड़े...
भाभी: अपनी मर्दानगी दिखा और फाड़ दे...
रामु: तेरे मम्मे और चूत में दर्द होगा खिचुगा तो...
भाभी: रंडी हूँ भूल गया?
रामु: तेरी माँ की गांड मारू साली...

करके भाभी के कपडे को खीच खीच के फाड़ ने लगा... भाभी को कहरना मना था... जैसे भाभी के मुह से आवाज़ आती एक मर्दानी हाथ शरीर पर किसी भी जगह मारता...

रामु: साली रंडी होकर भी इतना आवाज़ करती है... तुजे आदत होनी चाहिए... साली मादरचोद... आवाज़ करेगी... साली बिस्तर गरम करने मैंने तुजे रंडी बनाया है... चल चौड़ी कर तेरी चूत... साली कितनी फूली हुई है... रण्डी कहि की... चल जुक निचे घुटनो के बल बैठ, साली मादरचोद ले मेरा लण्ड मुह में कब से परेशान कर रही है... साली कुतिया छिनाल... तेरे बदन को भोगने के लिए तो दुनिया का हर मर्द तैयार रहना चाहिए... और तुजे हर किसीका बिस्तर गरम करने के लिए ही जन्म मिला है... आ चल आज अभी मुझे खुश कर...

कुछ भी बोले जा रहा रामु... भाभी के बदन को हो पूरी तरह निचोड़ना चाहता था... भाभी लंड मुह में पूरी तरह ले नहीं पा रही थी... तब भी उसे मार मार कर जबरदस्ती कर रहा था... पर भाभी बिना संकोच किए मस्त साथ दे रही थी... भाभी जैसे मुझे इंस्ट्रक्शन दे रही थी वैसे ही डीप थ्रोट के लिए रामु को दे रही थी... जब पूरा लण्ड अंदर चला गया मुह के तो रामु बहोत खुश हुआ.. और ख़ुशी से भाभी के मम्मे को दबाया... भाभी को उठाकर बेड पर पटक दिया.. वो भाभी के ऊपर चढ़कर मम्मे चूस रहा था... भाभी के मम्मो से खेल रहा था... भाभी के दोनों मम्मो को खिचखिच कर एकदूसरे को मिलाने में लगा था... भाभी के भरे स्तन पर निप्पल थोड़े बाहर के साइड थे पर रामु आज मिलाकर ही मान ने वाला था... भाभी ने अपने हाथ थोड़े सुकुड़े मम्मे को करीब लाने में पर फिर भी आधा इंच दूर रहा...

भाभी: नहीं मिलेंगे... अब बस...
रामु: रंडिया मना नहीं किया करती... वो सिर्फ ख्वाहिशे पूरी किया करती है...
भाभी: तो लगा रह मुझे क्या... तेरा टाइम खोटी हो रहा है...
रामु: माँ चुदाये.... पर आज के दिन तेरे चुचे एकदूसरे को बिना छुए नहीं जायेगे... ये रामपाल का वादा है..
भाभी: मैं भी तेरी ये इच्छा पूरी किए बिना नहीं जाउंगी...तू बस कोशिश करके खिचता रहना.. मेरी परवाह मत करना...
रामु: तेरी रंडी कर भी कौन रहा है... चल चूत में थोड़ी जगह बना...
भाभी: चूसना नहीं...
रामु: में रंडियो की चूत या गांड चूसता नहीं हूँ...
भाभी: ठीक है... लगा अपना लौड़ा और पैल दे तेरी ये रंडी को...

रामु का लंड तो काफी मोटा था... भले शायद मुझसे छोटा होगा... भाभी के चूत पर रखते ही एक ही जटके में भाभी के चूत को चीरे रामुके लण्ड का टोपा घुसा दिया... भाभी ने जोर से चीस दी... पर रामु के हाथ में बन्धी वो कहीं जा नहीं सकती थी... रामु कभी मम्मो पर तो कभी मुह पर कभी दातो से निप्पल खीचना चालू रक्खा... भाभी के हाथ पीठ पर घूम रहे थे... और यही उनकी समर्पण भावना दिख रही थी... सेक्स के दौरान भाभी पर चढ़ने वाला ही उसके बदन का मालिक है ऐसा अनुभव अचूक करता... एक ही गति में रामु का लण्ड धीमे धीमे भाभी की चूत में घुस गया...

भाभी तो जैसे लौड़ा अंदर घुसा के जड़ने लगी.. रामु तो अभी स्टार्ट कर रहा था... भाभी के निप्पल को लगातार एकदूसरे की मिलाने की कोशिश करते हुए रामु जबरदस्त धक्के लगाना चालू कर दिया... एक अधेड़ उम्र के बन्दे को एक कच्ची कली समान मस्त बदन यूज़ करने को मिला था... वो कैसे छोड़ता..? लगातार भाभी पर रामु के लंड के घपाघप आवाज़ आ रही थी पुरे रूम में... रामु के पीठ पर भाभी के नंगे पैर वाह घायल बना रही थी मुझे... मैं भी मुठ मार रहा था... रामु ने लण्ड बाहर निकाल के भाभी को घुमाया और डौगी स्टाइल में चूत पे हमले देने लगा... अचानक भाभी जैसे जड़ी के उसी में गिला लण्ड निकाल के भाभी की गांड मारने लगा... थोड़ी दिक्कत हो रही थी, पर रामु के चहेरे पर ख़ुशी साफ़ दिख रही थी...

रामु: बोल अब मेरा निकल ने वाला है कहा निकालू? (हांफते हुए)
भाभी: आ.... तेरी रण्डी हूँ.... अआया... ह... तेरी मर्जी...
रामु: बोल पियेगी?
भाभी: तू जो कहेगी करूंगी... तेरे बिस्तर पर तो.... आह... तेरी ही हुकूमत चलेगी...

रामु ने जल्दी ही गांड से लण्ड निकाला और भाभी को घुमाके बूब्स को फिरसे चमात मार के भाभी को वापस डीप थ्रोट देने लगा... और जोर जोर से धक्के मारके पूरा वीर्य भाभी के मुह में निकाल दिया... और फिर जब भाभी पूरा चाट चाट के साफ कर रही थी तब भाभी ने रामु के बोल्स भी चाटे.. रामु का लण्ड अभी भी बड़ा और कड़क था... तो रामु ने भाभी को सुलाया और धीमे से अपना लण्ड चूत में डाल के भाभी पर पड गया... और धीरे धीरे अंदर बाहर करने लगा... दोनों पसीने से लथपथ...रामु भाभी को हल्के से चोद रहा था और जब अंदर जाता तब भाभी जब कहर उठती... दोनो निप्पल को उसी टाइम एकदुसरे की और खिचता... हर एक जटके पर मुझे लगता के इसबार तो निप्पल एकदूसरे को छु लेंगे पर रामु ख्याल रखते हुए धीरे धीरे कर रहा था... धीमी गति के सेक्स के कारण भाभी और बेताब बनती जा रही थी... एक तो मम्मे पर हमले और भी उसे मदहोश बना रही थी.. वो जड़ने के करीब थी... और रामु भी... और इसी घमासान में रामुने निप्पल को जब एकदूसरे से मिलन करवाया के दोनों एकसाथ जड़ गए... रामु भाभी पर चढ़ा रहा फिर भी...एक मम्मा वो खुद निप्पल मुह में लेके चूस रहा था और दूसरा भाभी को ऑफर किया चूसने को... भाभी के लिए ये भी नया था... दोनों एक घण्टे तक बिस्तर गरम करते रहे... रामु थक चुका था पर भाभी काफी कम थकी नज़र आ रही थी....

भाभी पर रामु पड़ा रहना चाहता था... पर समय का ध्यान रखने के लिए भाभी ने रामु को अपने ऊपर से हटाने को चाहा...

रामु: पड़ी रहे... ऐसे मुलायम बदन पर अब चढ़ने का मौका कब मिलेगा?
भाभी: हा हा हा... पर अब तेज के पास जाना है... केविन सर ने क्या बोला था?
रामु: ह्म्म्म चलो ठीक है... मैं अब ये मीठी निंद्रा लेना चाहता हूँ... एकबार मम्मा चुसवा के जा मेरी रानी...
भाभी: हा लेना... दोनों हलके कर दे...

रामुने मस्त होकर मस्ती से मम्मे चूस चूस के मज़े लिए... और निप्पल को खीच कर बड़ी मुश्किल से भाभी को अपने से अलग किया... भाभी बेड से खड़ी तो हुई पर अब वो थकी हुई थी... उनसे चला नहीं जा रहा था... पर गुरुर उनके चहेरे में दमक रहा था... के बुढ्ढे जवान सब उनके बदन के लिए तरस रहे थे.... एक और जन को उनके बदन का सुख देने जाना था... पर सुबह से दस बारा बार ज़ड चुकी थी... तो अब ताकत नहीं थी इतनी के मस्ती से तेजसिंह को कुछ दे पाए... रूम से बाहर निकलते ही मैंने भाभी के कमर पर हाथ रखा और गांड से हाथ घुमाते हुए पूछा...

मैं: सब दर्द नहीं कर रहा है?
भाभी: ह्म्म्म थोडा थक चुकी हूँ...
मैं: साली तू थकी तो सही आखिर मैं...
भाभी: हा पर देख न... सुबह से सात लंड खा चुकी हूँ और अब आठवा...
मैं: अरे अभी तो और भी है... तिन और हम लोग थोड़ी ऐसे बैठे बैठे तमाशा देखने आये है मेरी जान?
भाभी: ह्म्म्म तो आ जाने तो पूरी फ़ौज को...
मैं: नहीं नहीं मैं मजाक कर रहा था... जाओ जा के नहा लो... और थोड़ी देर सो जा...
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Incest Kahani मेरी भुलक्कड़ चाची sexstories 27 3,486 7 hours ago
Last Post: sexstories
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा sexstories 85 147,151 02-25-2020, 09:34 PM
Last Post: Lover0301
Star Adult kahani पाप पुण्य sexstories 221 954,182 02-25-2020, 03:48 PM
Last Post: Ranu
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान sexstories 119 87,803 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post: sexstories
Star Kamukta Kahani अहसान sexstories 61 227,197 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post: lovelylover
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) sexstories 60 149,115 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post: lovelylover
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा sexstories 228 788,848 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post: lovelylover
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 sexstories 146 94,132 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार sexstories 101 212,807 02-04-2020, 07:20 PM
Last Post: Kaushal9696
Lightbulb kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत sexstories 56 31,056 02-04-2020, 12:28 PM
Last Post: sexstories



Users browsing this thread: 3 Guest(s)