Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
09-17-2021, 12:05 PM,
#11
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-11)

Devesh ne apna lund aprna ki chut se nikal liya, aprna ki chut se abhi bhi devesh ka komras nikal raha tha, aprna uthke jaane lagi to devesh ne usey fir daboch liya.
Devesh ne foran aprna ke hotho ko apne muh me bhar liya aur uske upper chad ke kiss karne laga, dono ek baar fir behekane lage, is baar devesh ne nangi aprna ko jhuka diya aur kuttiya bana diya aur khud kutta ban gaya air uski gaand ke ched me angutha daal diya aprna chonk gayi.
Aprna:- aram se beta wo bhut tight hai.

AB AAGE:-

Devesh ne foran uski khuli gaand dekhi sach me devesh to pagla hi gya tha gaand dekhke, usne foran lund ko ched me tikaya aur apni ungli bahar nikali aur bade hi kaske ek jhatka lagaya is baar aprna chikh padi, usey behad dard hone laga, usne sidhe khade hona chaha oar devesh ne usey jhukaye rakha aur uske chutado ko kaske pakad kar 3 4 dhake kas kaske maar diye, aprna ko bhut tez dard ho rha tha wo rone ko ho gayi thi lekin wo jaanti thi mard apne kaabu me jabhi hoga jab wo apna veerya chod dega, ab devesh ne bhi kaafi achi speed pakad li thi wo kas kas ke aprna ki gaand maar raha tha, aaaah aaahahhh aahhh ki awaze pure ghar me fel rahi thi agar koi ghar me hota to ye paka pakde jaate..

Lekin is waqt devesh to bas aprna ki gaand marne me busy tha aur kas kaske dhakke marta raha aur aprna bhi apni gaand piche le jaake full sath de rahi thi, kuch der aise hi gaand maarne ke baad usne apna lund gaand se bahar nikal liya aur palag pe baith ke 60 killo ki aprna ko apne lund pe bitha diya, pehle to lund ghusa nhi lekin aprna ne khud hath se pakad ke lund pe baith gayi aur upper niche hone lagi.

Ab devesh puri takat laga ke bhari bharkam aurat ki niche se gaand maar raha tha aur apne dono hatho se uske chuche daba raha tha aur bich bich me aprna ko apne lund pe koodne ko bolta , aprna ab kaafi jyada horny hone lagi thi aur 5 6 dhako ke baad wo bhi devesh ke sath jhad gayi.
Devesh apna lund uski gaand me rakhe rakhe hi let gaya

Thodi der baad aprna uthi aur apni gaand ko aur devesh ke lund ko saaf kiya.

Aprna:- beta tune to thaka diya aise koi chodta hai, tu let me nahake aati hu.

Kuch der nahane ke baad aprna apne kapde pehen ke bahar aayi to devesh unse maafi mangne laga to aprna ne bas itna bola ki

Aprna:- beta ye baat kisi ko batana mat.

Deves:- kaaki maa aap tension na lo.

Fir aprna apne ghar nikal jaati hai aur devesh so jaata hai.

Agle din police station me betha devesh apni fir vahi khaki vardi pehen case ki files padh raha tha vo thoda tension me tha lekin ander se bhut khus tha ki usne apni kaaki maa ko chod diya ek din me.
Aur sath me ek jawan ladki ki seal pack chut bhi milegi.
Constable bhi heran tha par wo jaanta tha ki bhaisahab jab khus hote hai jab kisi ki le lete hai.

Chaae wo kisi crimnal ki leni ho ya commissioner se tarif leni ho ya kisi aurat ki chut leni ho.

Constable:- sir aaj to aap kaafi khus lag rahe hai.

Devesh:- khus kyu na hou bhala jab zindagi me aish hi aish ho.
Constable:- Haa ye to hai sir ab hume hi dekh lo sham ko thake haare ghar jaate aur ghar jaate hi 2 roti ke sath biwi ki 10 nakhre sunne ko milte hai aji ye laado aji wo kardo , gaand maar rakhi hai sahab.

Devesh:- abey lode parsad abey kisi aur ki baato me mat aaya kar, teri biwi hai wo 7 fere liye hai tune 10 bache paida ki hai tune unki jimmedari tu uthata hai to apni ko kahi se bhi chod diya kar aage se piche se muh se..

Constable:- kya bole sahab ab hamari biwi me wo baat nhi rahi.

Devesh:- kya yaar tu bhi na tujhe randi ke paas to me jaane nhi dunga apni ghar ki hi koi aur pata le.

Constable:- sahab kya bol rahe wo jo me sex kahaniyo ke baare me aunta hu insect wala.

Devesh:- Abey chodu usey incest bolte hai, dekh tu bachpan me maa ke hath ki kheer pasand karta tha na. Behen ka pyar gf ke pyar se jada acha lagta tha ya nhi.

Constable:- hahaha sir ye bhi koi kehne ki baat hai.

Devesh:- iska matlab tu apni maa ko pasand karta hai

Constable :- haa bachpane me wo thoda nahane ke time dekh liya karta tha.

Devesh:- acha beta to bachpan se hi bigde huye hai hamare hawaldar sahab.

Constable hi ek tha jisse devesh khul ke hasi mazak kar liya karta tha, thodi der me chai aayi chai ki ek chuski li hi thi ki samne se ek 40 saal ki aurat gaand matkate huye andr aati hai aur jhuk namaste karti hai..

Devesh:- aaiye bethiye.. ( ye divya ki malkin thi aur wo apne bete sahil ke sath aayi thi wo pakde baith gaya)

Devesh:- kahiye chachi ji kya madad kare aapki? Apka beta pet pakde kyu baitha hai, kisi ne pet se kar diya kya ya hazma kharab hai?

Saare kaidi thaka laga ke haste hai sahil ko bhut gussa aaya par wo chup chap baitha raha kyuki usey pata tha uski gaand me danda de diya jayega.

Devesh ne sabko saant karaya aur us aurat ki taraf dekhne laga

Aurat :- ji mera naam naina hai aur ye mera beta sahil.

Devesh :- to kis cheez ki report likhwani hai.

Naina:- ji kuch din pehle atamghati hamla kiya tha mere bete pe kaale saaye ne

Devesh ke muh ki chai bahar aa gayi, naina gheri nazro se devesh ko dekhne lagi, devesh ne maafi maangke table ko saaf karwaya.

Devesh :- kaale saaye ne kyu maara tumhare bete ko kisi aurat ko cheda tha kya?

Naina:- arey nhi sahab mera beta to bhut sarif aur bhola hai.
Fir wo devesh ko ulti sidhi patti padha ke badhkane lagti hai lekin uski baato pe koi dhyan nhi de rha tha.

Devesh:- acha madam ji hume bhut hua aapke baare me jaankar lekin aap hi bataiye jo hamare mla aur us khatarnak rapist raka ko maar diya wo to acha hai aoke bete ko jaan se nhi maara apko to khus hona chaiye.

Naina:- aap daroga hoke kaisi baate kar rahe ho?.

TO BE CONTINUED ??
Reply

09-17-2021, 12:05 PM,
#12
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-12)

Devesh:- acha madam ji hume bhut hua aapke baare me jaankar lekin aap hi bataiye jo hamare mla aur us khatarnak rapist raka ko maar diya wo to acha hai aoke bete ko jaan se nhi maara apko to khus hona chaiye.

Naina:- aap daroga hoke kaisi baate kar rahe ho?.

AB AAGE:-

Devesh:- dekhiye madam behes karne ka koi fayda nhi agar kaala saaya pakda gaya waise hi uspe kaafi mukdma chalega aap uski hi report likhwane aaye ho.

Naina:- nhi sahab me sach keh rahi hu wo jo ladki hai na divya vo kala saaya ke sath nikal gayi, yakeenan wo kaale saaye ko janti hai aap uske jariye usey pakad sakte hai.

Devesh :- Acha thik hai ab aap jaaye.

Naina sahil ko pakad ke waha se nikal gayi sahil ke pet me itna jor ka punch pada tha ki ab tak dard nhi gaya tha.
Jis bande ka punch pathar jaisa ho usse bhidna bacho ka khel to nhi, ye sochke devesh me angdaai leke is case ko taal diya.
Lekin waha wo chai wala shaks behad gaur se naina aur devesh ki baate sunkar nikal gaya.

Shaam dhalne lagi thi, kaala saaya kisi saaye ki tarah ek veeran ghar me parvesh karta hai, tbhi usey ek call aati hai...

( Yaha se me kaale saaye ko KS likhunga)

KS:- hello

Chai wala:- sahab me bol raha hu. (Chai wala asal me KS ka khabri hai ek baar KS ne isey kuch gundo se bachaya tha tabse ye KS ka loha manta hai aur isko har baat ko khabr deta hai)

KS :- Haa bolo kya khabar laaye ho?

Chai wala :- sahab aapko jis ladki ne bachaya tha us ladki ki maalkin apne bete ke sath report likhwane aayi thi aur usne( sab kuch bata deta hai)

KS ke maathe pe shikan ki lehar daud gayi usne turant phone cut kar diya, yaani us kamini naina ne police ko sab kuch bata diya. KS badbadate huye sakthi se grill ko nikal deta hai aur ek secret door se amdar ghusta hai, vo janta hai ki koi bhi uspe nazar rakh sakta hai to wo sawdhani se apne ghar ke ander ghusta hai. Usey andar aate hi kahi bhi divya nhi dikhaye deti usey gadbad lagti hai, KS divya ke room ki aur chala jaata hai aur jaise hi ander jhakta hai uske pair wahi jam jaate hai, ander tv pe blue flim chal rahi thi ek mota hapsi ek gori ladki ki chut maar raha tha aur wo ladki moun kiye jaa rahi thi..

KS ka to dimaag hi hil gya ki sach me divya itni khuli huyi hai usne ander deam light me dekha ki divya ne apne pajame ka nada khol ke apni chut me 2 ungliya ander bahar kar rahi hai aur uski siskariya saaf bata rahi thi ki usey jabardast sex chada hua hai, usey yakeen nhi ho raha tha ki itni bholi bhali divya tharki bhi ho sakti hai. Lekin usey jaane me bilkul deri nhi lagi ki sahil ne uske sath kya kiya hai uske baad to kisi bhi ladki ko bina sex nhi ruka jata. KS divya ko dekhke bhut jada garam ho gaya tha par wo apne aap par kaabu karke apne room ki taraf chal diya.

KS apne kamre me aaya aur apni jeb se knife aur gun nikal ke drawer me rakh diye aur apne utarkar sirf underwear me aa gaya usne door thoda sa sata liya aur frenchy aur mask pehne hi kasrat karne laga.

Idhar aahat paate hi divya dheere se KS ko jhakar dekhti hai usey laga itni raat ko kon aa gaya?
Lekin jaise hi uski nigah KS pe padi vo shock ho gayi usey laga kahi uski chori na pakdi gayi ho lekin KS ko apne aap me magn dekh ke vo sochi sayad KS ko pata nhi chala fir uske dimag me pata nhi kya aaya wo khadi rahi usey laga sayad KS apna mask utarega aur wo apne hero ka face dekh payegi, vo dekhti rahi lekin KS ke six pack abs dekh ke kon aurat garam na ho To divya bhi ho gayi.

Kuch der baad KS ke dimaag me kuch der pehle ki scence chalne lage kaisi divya apni madmast jawani se khel rahi thi khelna to wo bhi chata tha par wo apna vishwas nhi todna chata tha kya pata usse koi gunah ho jaaye, kanchan ki baat alag thi. Waise bhi KS sab kuch samne wale ki marzi se hi karta hai.

Udhar divya apne bed pe leti huyi thi masturbate karke wo thak gayi thi lekin tabhi uske darwaze pe khat khat huyi, jab wo samne KS ko khada dekhti hai to uski aankhe badi ho jaati hai aur saanse atak jaati hai kyuki saamne KS bilkul nanga khada tha mask lagake.
KS nanga khada hoke apne mote lambe lund ko ragad raha hai, ye sab dekhkar divya apne muh pe hath rakh leti hai aur KS ko dekhke wo pehle hi garam thi ab khade lund ko dekhke jo sahil ke lund se doogna tha.

Is baar KS aur divya ki nazar aapas me mili, divya sharam ke maare apni mundi ghuma li, KS apne mote lund ko waise hi pakad ke khada tha.
Divya ka sharam se bura haal tha uska gora face ek dum laal ho gaya tha. Tbhi KS ne usey awaz di

KS:- divya mujhe tumse kuch baat karni hai.

Divya bas nazar jhukaye khadi rahi.

KS:- dekho divya hum dono yaha bhut dino se sath me hai aur me nhi chata tum mere se daro aur sehmo. Me samjhta hu hum sabki apni jaroorate hai, lekin hum ko ek doosre se darna nhi chaiye. Mujhe abhi ke liye maaf kar dena agar tumhe.....

TO BE CONTINUED ??
Reply
09-17-2021, 12:06 PM,
#13
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-13)

KS:- dekho divya hum dono yaha bhut dino se sath me hai aur me nhi chata tum mere se daro aur sehmo. Me samjhta hu hum sabki apni jaroorate hai, lekin hum ko ek doosre se darna nhi chaiye. Mujhe abhi ke liye maaf kar dena agar tumhe.....

AB AAGE:-

Divya:-ohh koi baat nhi ho jaata hai.

KS:- aur ek me aur mangna chata hu, mene tumhe tv pe.
( Uske baad KS kuch nhi bola aur divya bhi sab samjh gayi aur khud hi KS se maafi maangne lagi uski aankho me aansu ghul gaye)

KS ne aage badhkar uske face ko tham liya

KS:- Arey pagli isme bura kya hai?
Tumne koi gunah thodi na kiya hai tum bhi ek jawan ladki ho aur me samjh sakta hu tumpe kya bitti hai, isliye ab na tumhe mujhse koi saram karne ki jaroorat hai aur na hi mujhe.

KS:- bhut dino se tumse ek baat kehna chata hu par keh na paaya tum mujhe bhut pasand ho divya.

Ye sunke divya piche ho gayi aur KS ki smile teher gayi

Divya:- hum to lachaar garib ladki hai humse aap kya dil lagayenge? Aur hamare badan ko to kisi aur ne..

KS uske karib aaya..

KS:- Dekho divya tumse saadi karne ki gaurantee nhi le sakta kyuki ek meri zindagi aur hai jisme crime se ladna agar khuda na khasta me kbhi wapis nhi lauta to tumhre badan pe to safed saari ka daag lag jayega aur tum vidhwa ho jaogi kya tum aisa chaogi?

KS ki baat sunkar divya ki aankho me aasu ghul gaye

Divya:- aise na kahiye aap hamare bhagwan hai apne hamare liye kafi kuch kiya hai lekin mene.

KS:- tum mujhpar trust kar sakti ho, me auro ki tarah nhi hu ek baar jiska hath thaam liya uska hath kbhi nhi chodta.

Divya:- agar aap humse pyar karte hai to hume apna chera dikhaiye hum apne premi ka chera dekhna chate hai..

KS:- kya bhagwan ko koi dekh sakta hai nhi na me to mehaz ek insaan hu lekin wada karta hu ek din tumhare samne me apna ye mask jaroor utarunga aur tum us chere ko dekhogi jo juram ke tezab se apne chere ko dhake huye hai.

Yakinan KS ke raaz ko jaanne ki ichuk thi divya, par wo dil hi dil KS ke sath ke liye raazi bhi ho gayi thi, KS ne uske sath aaj tk koi jabardast nhi ki thi.

KS ne foran divya ko apni aur khichke god me utha liya aur usey apne kamre me le gya
KS ne foran usey lita diya aur uske uper chad ke uske kaan, aankh, gaal aur hontho ko chumne laga, divya bhi uska sath de rahi thi.

Kuch der baad usne ne foran uske suit ko nikal feka aur uski badi-2 chuchiyo ko azad kar diya, usne bilkul der na karte huye uske chuchiyo ko muh me thus liya aur doosre ko hath se dabane laga kabhi wo choosta kabhi daant se nipal kaatta , divya bhi ab khud ko dhila chod chuki thi aur dabi dabi siskariya le rahi thi.

KS ne niche badhte huye apni jubaan divya ki naabhi me ghusa di aur dono hatho se uski chuchi dabane laga, fir KS ne der na karte huye salwar ko khol dala aur jaise taise khiska ke ghutno tak kar diya, divya ne uthna chaha par KS ne usey firse lita diya, aur uski clean gulabi chut me muh rakh diya ye divya ko pagal karne ke liye kaafi tha

KS bhut aram se uski chut ko chuse jaa raha tha, uski pasine se mehekdar chut ki chusai se hi divya behekne lagi.
Ek jawan mard ke samne uske umer ki ladki leti huyi apni chut chuswa rahi thi, KS ne uski gulabi choti chut me bhut sara thuk mal diya aur fir usey apni jubaan se chodne laga, divya kaampne lagi, kuch der baad hi KS ko apne hotho pe namkeen sawad mehsus hua, divya buri tarah se kaamp rahi thi par KS ne deri na karte huye apne mote lund thuk ger ke masalte huye

Jaangh ko aur faila diya aur bich me lund ko firane laga, divya aaah aaaah karke siskariya bharti rahi, KS ne apne lund ko chut ke muh pe set kiya aur ek jordaar dhaka maar diya, divya ki chikh nikal gayi, par KS ne rehem na karte huye kas kas ke lund chut ke ander pelne laga, lund ander bhar aram se nhi ho rha tha koi jada sakth chut thi aur thi bhut garam, KS ko apna aadha stamina lagana pada kyuki saamne ek ya do baar sex ki huyi ladki thi.

Beech beech me divya ki chuchiyo me sir rakh ke unhe chus leta hai, divya ke muh se siskiyo ke alawa ek sabd nhi nikal raha tha bas poore kamre me chut aur lund ke takrane se huyi awaze aa rahi thi thap thap thap.
KS pure tarike se divya ko apna banane me laga hua tha, KS ne chodte huye jaise divya ke hotho ko chusa usne bhi utne hi maje se chusna suru kar diya, KS kabhi uski jeebh chusta kabhi uske hoth kam se kam 40 min ki chudai ke baad KS ne apna maal divya ki chut me bhar diya
Aur dono haafne lagte hai.....

TO BE CONTINUED ??
Reply
09-17-2021, 12:06 PM,
#14
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-14)

KS pure tarike se divya ko apna banane me laga hua tha, KS ne chodte huye jaise divya ke hotho ko chusa usne bhi utne hi maje se chusna suru kar diya, KS kabhi uski jeebh chusta kabhi uske hoth kam se kam 40 min ki chudai ke baad KS ne apna maal divya ki chut me bhar diya
Aur dono haafne lagte hai ....

AB AAGE:-

THIK tbhi KS divya se alag ho jaata hai aur fir pith ke bal bagal me let jaata hai, divya usse waise hi lipat jaati hai uski chut se abhi pani nikal raha tha aur puri chaddar gilli kar raha tha, divya apni ek taang KS ki taang pe rakh ke apne premi ke chere ko sehlane lagti hai, air fir dheere se uske hotho ko chumne lagti hai aur fir uske face ko apne chucho me dabake so jaati hai.

Doosre din jab uski aankh khulti hai to wo nangi leti hoti hai aur bedsheet dono ke ras se gilli hoti hai. Sooraj ki roshni room me pad rahi hoti hai, achanak usey bister ke doosri aur ek mask dikhta hai, wo us mask ko apne hath me leke feel karne lagti hai. KS ka mysterious face uske hath me tha lekin KS kab saaye ki tarah gayab ho gya usko pata hi nhi chala. Doosri aur ek letter rakha tha aur usme likha tha ki uske mask ko thik karde wo thoda tight ho gaya hai.

Ek gehri angdayi lene ke baad jaise hi nind tuti saamne table pe pada alarm baja, is baar nind se devesh alaram se pehle hi uth gaya, usne alarm ko band kiya aur sidha let gya..

Thodi der baad uske saamne sheetal khadi thi uske dilaye huye laal suit me, hath me chai ka tray liye khadi thi, usne nazre jhuka li aur boli

Sheetal:- aap uth gaye..

Devesh :- tum yaha itni subah.

Usne ghadi me dekha to 12 baj chuke they mtlb wo ghode bech ke so rahe they usne jaise hi apni chadar hatana chaha

Sheetal:- aap chadaar mat hataiye wo aap

Devesh:- kya hua sheetal? Ohh teri ( jab wo apni chadar me jhaank dekhta hai to wo nanga leta hua tha)

Sheetal:- haa lagta hai aapko raat me kapde utar ke sone ki adat hai hamari galti hai. ( Sheetal ke face pe saram aa jaati hai devesh sach me sarminda ho jaata hai)

Devesh chai ki chuskiya lete huye sheetal ko baithne ka ishara karta hai aur sheetal baithte huye muskra deti hai

Devesh:- arey sheetal tum to meri behen ho aur koi bhi apne bhai se sarmata hai kya. Vo kya hai na yaha pe raat ko garmi bhut badh jati hai, waise tumne mujhe kya poora...

Sheetal:- haa humne aapko piche se pura nanga dekh liya maaf kariyega hume, hum jab kamre me aaye to door khula huwa tha..

Devesh:- ohh sayad raat ko thaka hone ki wajah door band karna bhul gaya hounga, waise tum aaj bhut sunder lag rahi ho ye suit fit to hua na tumhe?

Sheetal:- haa bhut acha hai.

Devesh:- acha kaaki maa kyu nhi aayi? Tum akele aayi ho ghar kaise dhunda?

Sheetal:- wo maa rasaan lene chali gayi thi. Unhone bola ki aapke ghar jaake khaana aur saaf safai kar du waise unhone aapka address bata diya tha aur yaha meri ek saheli bhi rehti hai aur aapko to har koi jaanta hai.

Devesh:- Arey waah ye bhut acha kiya, ab me thoda naha leta hu.

Sheetal:- aapko police station nhi jaana..

Devesh:- Arey meri sheetal ghar aayi hai aur me uske sath time spent karne ke bajay kaam karunga kya, movie dekhogi?

Sheetal:- nhi nhi! Maa ko agar.

Devesh:- chal hatt pagli kuch pata nhi lagega tu jaldi se nasta bana de..

TO BE CONTINUED ??
Reply
09-17-2021, 12:06 PM,
#15
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-15)

Sheetal:- aapko police station nhi jaana..

Devesh:- Arey meri sheetal ghar aayi hai aur me uske sath time spent karne ke bajay kaam karunga kya, movie dekhogi?

Sheetal:- nhi nhi! Maa ko agar.

Devesh:- chal hatt pagli kuch pata nhi lagega tu jaldi se nasta bana de..

AB AAGE:-

Sheetal:- theek hai. ( Itna kehkar sheetal bahar chali jaati hai vo baar baar devesh ke jawan badan ko dekh kar tap rahi thi, ye baat devesh jaan chuka tha.
Usey lagne laga sheetal gaon ki gori hai aur thodi chalu type bhi to isey patana koi muskil kaam nhi hai)

Devesh kaaki maa ke baare me puchna bhul gaya ki unka kya haal hai? Lekin wo ye baat janta tha agar jyada puchega to is chaalu baaz sheeta ko pata lag jayega ki hum Dono ki chudayi ho chuki hai to baat bigad jayegi.
Devesh fatafat naha dhoke ke ekdum chaka chak ready ho gaya
Itne me sheetal bhi kamre me apne kamar lachkate huye aa gayi nashte ki thali leke.

Devesh ne sheetal ko bhi bola ki wo bhi nasta karle thodi naa nakur ke baad wo maan dono ne khaana khaya. Fir devesh ne uski thodi tarif ki

Devesh:- arey waah kya taste hai meri sheetal ko to bhut acha khaana banana aata hai.

Sheetal saram ke maare laal ho gayi, sheetal ne batayaa ki ek kanchan naam ki aurat subah aayi thi to usne usey mana karke bhaga diya. Devesh bola bhut acha kiya.

Devesh janta tha kanchan jaisi kaamwali ki kaali chut maarne se acha hai apni is gaon ki gori behen ko pata le sath me maa bhi free mil rahi hai wo bhi hasina.

Devesh sheetal ko jeep me baitha ke bazar le gaya.
Waha usne sheetal ko uski manpasand chudiya aur makeup ka mehnga saman kharid ke diya.

Sheetal:- agar maa ko pata chala to wo bhut gussa karegi.

Devesh :- darne ki koi jaroorat nhi hai me unhe sambhal lunga.

Fir devesh ne sheetal ko ache se restaurant me le jaa ke lunch karwaya.
Ladki ko aur kya chaiye koi usey ghuma raha hai shopping karwa raha hai khilla pila raha movie dikha raha hai aise me ladki ko patana easy ho jata hai. Devesh bhi thik yahi kar raha tha.

Lunch karne ke baad devesh aur sheetal theater me gaye.
Devesh janta tha aprna ghar aake sheetal ko jaroor dhundegi to usne pehle hi aprna ko phone karke bata diya ki wo sham tak sheetal ko ghar chod dega aap chinta na kare.

Bengali movie lagi thi romantic aur thriller. Movie dekhne ke baad jab ghar laute to suraj dhalne laga tha.

Devesh:- aur aaj ka din kaisa raha?

Sheetal:- bhut acha tha dada.

Devesh :- hmm waise tumhara ko boyfriend hai kya?

Sheetal:- arey dada aap bhi kaisi baat karte ho agar maa ko pata chala to mujhe jaan se maar degi.

Devesh:- arey sahi to hai. Aajkal ke kamine ladke ladki ko pregnant karke chod dete hai. Aur ladki ki jindagi barbaad kar dete hai.

Sheetal:- ye to hai dada. Waise thanks mujhe aaj tak aise kisi me khilaya pilaya nhi hai.

Devesh :- hatt pagli bhai ko thanks bolti hai me bhi to tera hu. Chal tujhe ghar chod dun.

Devesh ne sheetal ko jeep me bithake usey ghar chod diya aur usey hidayat di ki aaj ke baare me kaaki ko na bataye sheetal ne bhi haa bhari aur ghar me chali gayi. Devesh janta tha ki sheetal ko apne niche laane me jyada muskil nhi hogi. Usne constable ke paas phone karke station ki report li to usey pata chal ki kal commissioner aa rahe hai. To mann me socha beta kal to gaand maregi.

*************************************************************

Idhar bulb ki roshni me ghar ke bicho bich sahil aur uska baap anjar sarab pi rahe they. Ekdum se naina paas me aati hai aur ne dekh ke jor se kehti hai-

Naina:-yahi din dekhna baaki reh gya tha kamino kuch to saram karo itna bawal ho gaya aur tum dono baith ke sarab pi rahe ho..

Sahil:- kya maa tu itna kyu khijla rahi hai? Saala dard kam lagta hai.

Naina:- Haa Haa jitna hum us raand ke jhatke seh rahe hai na utna to tere baap ke lund ke jhatko me bhi dum na tha.

Anjar:- arey meri jaan chup ho jaao kyu cheekh rahi ho?
Baap beta daaru pi sakte hai to tujhe kya problem aur apne bete ke saamne apne pati ke lund ki tareef kar rahi hai saali chinaal.

Naina:- Haa haa bolo bolo aur pi lo us kamini raand divya ke chakkar me isey kitna dard sehna pada mujhe to dar hai kahi wo KS fir se hamari lene na aa jaye, me to kehti hu kuch dino ke liye hume kahi chale jaana chaiye.

Anjar:- arey jaan kyu darti hai tu? Aane de us bhsdk ke ko tune inspector ko bol diya tha na abhi thod kadki bhi chal rahi hai fasal me aur wo sala kal kisaano ka sardar saantilal riha ho rha hai jail se.

Naina :- heyy ram wo harami bhi jail se nikal raha hai usey faasi kyu nhi huyi.

Anjar :- arey meri jaan usey humne faasi me nhi fasaya tha. Ab wo kal jail se chutte hi khatam ho jayega mene aupari dedi hai uski. Aur filhal thoda chup raha kar KS ka jyada naam mat liya kar, agar bahar kisi ko hamare baare me pata chala na to ache se fategi hamari, chal ab jaa hume pine de

TO BE CONTINUED ??
Reply
09-17-2021, 12:06 PM,
#16
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-16)

Naina :- heyy ram wo harami bhi jail se nikal raha hai usey faasi kyu nhi huyi.

Anjar :- arey meri jaan usey humne faasi me nhi fasaya tha. Ab wo kal jail se chutte hi khatam ho jayega mene aupari dedi hai uski. Aur filhal thoda chup raha kar KS ka jyada naam mat liya kar, agar bahar kisi ko hamare baare me pata chala na to ache se fategi hamari, chal ab jaa hume pine de

AB AAGE:-

Naina anjar ko gaali dete huye apne room me chali gayi, uska tension badh gaya tha.
Jab bahar aayi to dono ko ice aur soda deke wapas aa gayi.
Dono baap beto ne ek ek peg aur liya fir wahi pe so gaye ya ye kahu ki behos ho gaye.

Idhar naina divya ko man hi man gaaliya de rahi thi ki tabhi phone baja

Naina:- Hello kon?

KS:- teri chut me lund dalne wala.

Naina:- kon harami bol raha hai? Maa ne kuch sikhaya nhi hai.

KS:- Haa sikhaya hai na dushmano ki gaand maarna usne is bache ko paida kiya hai ki tere jaiso ki gaand me lund dalke ehsas ke kara sake ki dard kya hota hai.

Naina:- oyy kon bol raha hai tu?

KS:- kaala saaya.

Naina chillate huye dono baap bete ko uthane ki kosis karti hai magar wo dono to behos pade they, naina bahar aati hai ki tabhi phone pe firse awaz aati hai

Naina:- dekh tu jo koi bhi na teri humne supari de rakhi hai agat ek baap ki aulad hai to idhar aake dikha.

KS:- tera beta 2 lund se paida hua hoga randi me to ek mard ki aulad hu, waise bui mujhe us din ki bachi huyi kasar puri karni hai.

Naina:- kya chata hai tu humse us randi ke liye?

KS:- ayyy tameez se baat kar tune jin fool jaisi bachiyo ki jindagi apne baite se barbaad karwayi hai na un sabka badla lunga me. Tu janti hai na tera beta aur tera mard sarab pi ke tun pade hai janti hai mene usme kya milaya tha.

Naina ne ekdum se sarab ki bottle uthake dekha to usme kuch safed safed sa tha jo in chutiyo ko dikha nhi tha, usne darwaz khidki sabko lock kar diya.
Tabhi phone doobara baj utha.

KS:- dekh baar baar phone karne ki adat nhi hai mujhe line pe bani reh tu, aur jo tu ghar ke darwaze lock kare hai na ki me ghar me na ghus paau to me teri almirah me hu.

Naina ki to gaand fat gayi, ab to uske muh se koi lafz nhi nikal raha tha pure hath paw kaamp rahe they

KS:- arey dar mat meri randi mazak kar raha hu par isey hakikat banane me waqt nhi lagega ab dhyan se sun kal shyam 9 baje

Naina bich me baat katte huye

Naina:- me teri baat kyu maanu?

KS:- abey randi chikh mat kuch chikhe bacha le gaand marwate time kaam aayegi, apne bete aur mard ki khariyat chati hai na to thik baje tere purane kheto pe aa jana..

Naina:- me kyu aaungi tere paas? Ruk abhi bulati hu police ko.

KS:- jo MLA ko maar sakta hai usey inspector ko maarne me kitna waqt lagega tu apni khair mana aur sun akele aana mere pass tere bete ke khilaaf aise saboot hai ki tujhe aram se tod sakta hu.

Naina:- tu kitna chata hai bol aone muh se tu janta hi kya hai hamare baare me?

KS:- jitna bol raha hu sun le divya mere pass witness hai aur tu usey dhoondna chod de wo tum logo ko 10 janam me bhi nhi milegi.
Doosri cheez tere bete ne jitni ladkiyo ke sath chudayi ki hai na sabka mms hai mere paas, mere ek ishare pe tera baat badnam tumhari izzat khatam

Naina:- nhi nhi tum aisa kuch nhi karoge to jo kahoge wo me karungi..

KS:-hmmm karna to padega hi aur tune apne mard ko bataya to kal tera pati sir kata tere farmhouse pe milega.

Naina:- dekho me keh rahi hu na mujhe dhamkao mat. ( Naina ab bhut jyada darne lagi thi aur uski awaz bhi rone jaisi ho gayi thi)

KS:- hahaha ab aayi na aurat lund ke niche aur dhamka nhi raha bata raha hu meri randi, meri bhi kuch term and condition hai aur tera pati jin ladko pe uchlta hai na aur unhe palta hai unki haddiya todke Subhash chandra memorial hospital me admit karwa chuka hu.

Naina:- kyaaa? ( Ab fir se fat gayi gaand? kyuki usey laga thi KS itna nhi janta hoga par usey kya pata KS saaye ki tarah har jagah rehta hai aur apne dushman ki har nas se wakif hota hai)

KS:- Haa me tere plan ke baare me jaan chuka hu ab tu 10 ladke laa ya 100 ladke sabko hospital pahucha dunga.

Naina ab rone lagi aur KS ki baato ki haa me haa milane lagi..

TO BE CONTINUED ??
Reply
09-17-2021, 12:06 PM,
#17
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-17)

काला साया : अच्छा फाइनल बात बता देता हुक अल लाल सारी पहनें आएगी समझिी और अच्छा तैयार होकर आना
कुटुम्ब : यईी तूमम्म क्या बक रहे हो?
काला साया : देखह अगर चेहरे पे मुस्कान नहीं होगी बन तान्न के नहीं आएगी तो तेरे पति को लगेगा तू खेत जा रही है फिर वॉ तेरे पीछे आएगा और फिर जानती है ना
कुटुम्ब : अच्छा ठीक आिइ मैं आ जौंगिइइ तुम प्ल्स ऐसा कुछ मत करना पर वॉ एम एम एसे मुझे
काला साया : काल साय एक बार कहता है हज़ार बार नहीं तू बस आ जाना

फोन कट हो जाता है…कुटुम्ब की तो गान्ड चुत पूरा शरीर तार्र तार्र काँपने लगता है पता नहीं काला साया क्या सुलूक करेगा उसके साथ? पर एक मां के साथ साथ वॉ एकक औरत भी थी जिसे अपने घर की इज्जत हर हाल में बचानी थी….उधर काला साया गुस्से की आग में जल रहा होता है और फौरन एक फोन लगता हे

दूसरे दिन जेल से शांतलाल रिहा हो जाता है उसके दिल में 6 महीने की जो सजा मिली थी ऊस बात का आक्रोश होता है और अंजर को मारने का वॉ पूरा प्लान किए आगे बढ़ने को होता है इतने में कुछ गुंडे उसका रास्ता चैक लेते है

शांतलाल : क्या रे बहेनचोड़ बेटीचोड़ क्यों रास्ता रोका?

हूँ बिना कुछ बोले उसे मारने को आगे आते है शांतलाल ऊनसे भीढ़ जाता है…शांतलाल एक बेहद निर्दयी गुंडा था ऊस्की उमर 48 के आस पास थी कभी अंजर का गहरा दोस्त था दोनों मिलकर राशन उठाने वाली मज़दूर औरत या किसी की बीवी की मज़बूरी का फायदा उठाकर उनके साथ चुदाई करते थे…एक दिन शांताला की निगाह कुटुम्ब पे पार गयी इस बात पे दोनों में कहा सुनी हो गयी और शांतलाल ने राशन देना भी अंजर को बंद कर दिया उसका नुकसान होने लगा और ऊसने फौरन फ्सी ऑफिसर को इस बात का पुष्टि दिया रेप और इल्लीगली राशन ना देन एक जुर्म में उसे अरेस्ट कर लिया गया…शांतलाल का आक्रोश बढ़ता रहा…लेकिन ऊस वक्त एमएलए चाँदी प्रसाद का दबदबा था उसे सिर्फ़ 6 माह की सजा हुई एमएलए के मरने के बाद हूँ उतनी ही महीने की सजा कटता रहा और जब बाहर निकाला तो उसका पूरा आक्रोश अंजर पे और ऊस्की बीवी पेट हां

अचानक लरआई के दौरान पीछे से हूँ गुंडा शांतलाल को चाकू मारने ही वाला था की हूँ मुकोता पहना शॅक्स बीच में आ गया जाने में डायरी नहीं थी अंजर के गुंडे थे ये लोग काला साया ने सिर्फ़ कुटुम्ब को थोड़ा डराया था…लेकिन उसी हॉस्पिटल में कुछ देर बाद जाने वाले थे

काला साया ने फुरती से ऊस चाकू वाले का हाथ मोधके दूसरा लात पीछे वाले गुंडे पे मारा..और फिर शुरू हड्डी तोधने का खेल शांताला घायल होकर एक जगह बैठ गया..काला साया मारता गया…और बाकी रही गयी हड्डी टूटी कार्रहतें ज़मीन पे परे गुंडे

काला साया ने एक ही झटके में शांताला को पकड़ा शांतलाल डर गया उसे काला साय के बारे में पता था और फौरन दोनों बाइक पे बैठकर वहां से फरार हो गये पीछे पुलिस की जीप आ चुकी थी…काला साया एक खंडहर में आकर शांतलाल को बिता देता है और उसके ज़ख़्मो की पट्टी करने लगता है

शांतलाल : काला साया भी तू अपुन को क्यों बचाया?? आहह ससस्स टीटी..तू मुझसे क्या चाहता हाीइ?
काला साया : देख तू जनता है की मैंने तुझे क्यों बचाया ये लोग अंजर के गुंडे थे (शांतलाल का गुस्सा दहेक जाता है लेकिन हूँ चुपचाप हाथ पे लगी पट्टी के दर्द से करहाने लगता है और फिर जैसे तैसे खुद को संभलता है)
शांतलाल : जनता था भोसड़ी का हरामी की बीज मुझे फसाएगा ही एकदिनन्न साले को कांट दूँगा मैं
काला साया : तेरा यही जूननून गुस्सा मुझे चाहिए
शांतलाल : पर तू मेरी मदद क्यों रहा है? मैं तो खुद तेरे निगाहों में गुंडा हूँ एक गुंडे की मदद एक जुर्म का सफ़ाया करने वाला करेगा हाहाहा
काला साया : आबे सुन अगर आज मैं ना आता तो तेरा बदला तेरी मौत के साथ इस दुनिया से रुकसट हो जाता इसलिए अगर किसी पे आक्रोश निकलना है तो हूँ है अंजर की फॅमिली
शांतलाल : लेकिन तुझे इससे क्या भैईई?
काला साया : मुझे बोलने में टाइम नहीं लगेगा की तूने कितनों का घर उजाड़ा उसके साथ मिलकर कितनी औरतों का सोशण किया मैं चाहूं तो तुझे फिर जेल भेज सकता हूँ और टुंुझे अच्छे से वक़्क़ीफ़ है

शांतलाल जनता था की काला साया को टाइम नहीं लगेगा उसे मारने में या फिर उसे वापिस जेल भेजने में एमएलए का खून ऊसने किया उसके बॉस को काला साय ने जान से मर डाला अब शांतलाल डर गया उसे कुछ सूझ नहीं रहा था

शांतलाल : भैईई मुझे मांफ कर दो ऊस मादरचोद के वजह से बहेक गया था मैंन्न साले कमीने के वजह दो दरृू की घूँट लेकर चुत के लिए पागल हो गया था मैंन्न तू मुझे बक्ष दे भी मैं तेरा गुलाम बनकर को तैयार हूओ
Reply
09-17-2021, 12:06 PM,
#18
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-18)

काला साया : ना ही मैं तेरा मालिक और ना ही तू मेरा गुलामम्म मैं सिर्फ़ दोस्ती का हाथ बढ़ाना चाहता हूओ

शांतलाल : भी तू जो कहेगा अपुन तैयार (शांताला ने मुस्कुराकर हाथ मिलाया) लेकिन भाई तू चाहता क्या है?

काला साया : तू नहीं जनता अंजर के बेटे ने एक लड़की को मोलेस्ट किया है अब मैं उसे इंसाफ दिलौँगा लेकिन इसका तालूक़ उसके फॅमिली से है ऊन दोनों हरामजादो के साथ एक रांड़ भी है

शांतलाल : हाँ भैईई कुटुम्ब्ब सलाई मस्त रांड़ हाीइ मेरा दिल तो ऊसपे फिदा है पर साली के मर्द के वजह से ही आज मुझे ये दिन एक बार मिल जाए ना

काला साया : बस बॅस ये आक्रोश अपने लंड में डाल और उठने ही झटके देना तू चाहता है ना तू कुटुम्ब को चोदे वॉ अब तैयार और मेरी दोनों की रखैल बनेगिइ

शांतलाल : क्या बाहिी सच में तू मुझे ऊस्की मारने देगा मैं ऊस्की गान्ड मारने का बहुत शोकीन हूँ भाईईइ

काला साया : हाहाहा बिलकुल लेकिन अगर तूने इस बीच कुछ उल्टा सीधा किया तो मुझे मज़बूरन तेरे खिलाफ

शांतलाल : नहीं भाई गंगा माय्या की कसम अपुन तेरे साथ हे जो कहेगा करूँगा बस पुलिस से मुझे दूर रखना

काला साया : ठीक है तू बस सिर्फ़ इतना कर की एक होटल का इंतजाम कर वहां कमरा लगा होना चाहिई मैं तुम दोनों की ब्लू फिल्म उतारूँगा

शांतलाल : लेकिन भाई हूँ मना की तो इसमें काफी रिस्क है

काला साया : काला साया के पहरा है ऊसपे हूँ कुछ नहीं कर पाएगी वो मेरी अब गुलाम हाीइ तू बस जगह और प्लान तैयार रख और अपनी चेहरे की फिक्र मत करते एरा चेहरा पूरा धक्का होगा सिवाय ऊस रांड़ के

शांतलाल : भैईई कसम्म बस तू उसे ले आ बाकी काम मुझपर चोद दे (शांतलाल तरकपन में अपने छाती को मसलता हुआ बोलता है)

काला साया : ठीक हाीइ तो आज रात से ही हम प्लान शुरू करेंगे फिर उसके बाद अंजनर

शांतलाल : भी अंजर का खून करना है मुझे उसके लिए मुझे मत रोकियो

एक पे एक चाल खुद शांतलाल काला साया के लिए आसान कर रहा था काला साया मुस्कुराकर अपने प्लान को खुद अपने आप अंजाम होते देख खुश हो रहा था…वॉ बस शांतलाल के तरकपन और उसके बदले की जुनून का खूब अच्छे से फायदा उठा रहा था…अब घोड़ा घोधी दोनों उसके हाथ में थे बस उसे चाल चलनी थी….वॉ बस अब अंजर और उसके बेटे शैल की जिंदगी को तहेस नाबूत होते देख रहा था…

“शर्म आती है मुझे तुम जैसे ऑफिसर पे जो एक छोटे से केस को भी संभाल नहीं पा रहे”….कमिशनर चिढ़ते हुए कहता हाीइ…सब कॉन्स्टेबल्स और हवलदार केबिन में खड़े है…नज़र झुकाए और सामने खड़ा है देवश भी जो अपनी टोपी हाथ में लिए बस सर झुकाए है

कमिशनर : मुझे तो आजतक ये बाद समझ नहीं आयआई की वॉ कौन है जो खुद को काला साया कहता है अंधेरे की आध में आकर सबको तोड़ के जाता है और जो काम तुम जैसे निताल्ले को करना चाहिए वॉ चुटकी बजा के करके चला जाता है

देवश : साला बीवी की गान्ड मर के भी ठंडा नहीं पड़ा (मन ही मन बधबदते हुए)

कमिशनर : हेययय यू मिस्टर इंस्पेक्टर देवश चटर्जी क्या बड़बाधा रहे है आप गाली दे रहे है हमको नहीं नहीं दे दीजिए वैसे भी आप का काम बस यही हे आपके मेजर इश्यूस को देखते हुए मुझे स्ट्रिक्ट एक्शन लेना पड़ेगा ये सब क्या हो रहा है इस शहर में पहले एमएलए का कत्ल फिर रेपिस्ट गान्ड की मौत और अब काला साया का बढ़ता दबदबा

देवश : सर आप इतना खिजलाइए मत हम अपनी तरफ से खोषिस तो कर रहे है पर ससुरा दूध में से मखिी की तरह गायब हो जाता है…जब उसे ढूंढ़ने के लिए पहरे लगते है तब वॉ ऊस रास्ते पे मिलता ही नहीं…आप मुझे बस कुछ दिन की!

कमिशनर : एक दिन तो क्या अगर एक साल की भी मुहूलट दूँगा तो यू गाइस डिड्न;त ईवन फाइंड हिज़ डिक यू ऑल जस्ट स्क्रूड उप मुझे तो शर्म आती है की तुम जैसे पुलिस डिपार्टमेंट को मैं ऋण करता हूँ ये है मेरे काबिल ऑफिसर्स में फूटत

देवश : सिररर प्लीज़ गुस्सा थूक दीजी आप प्ल्स मुझे कुछ दिन की मुहूलट दीजिए ई विल मेक यू शुरू डेठ की मैं उसे आरएस्स्ट कर सकता हूओ

कमिशनर : ठीक है सिर्फ़ कुछ दिन लेकिन अगर तुम इस बार प्रूव नहीं कर सके तो ट्रांसफर लेटर्स के लिए तैयार हो जाना
Reply
09-17-2021, 12:06 PM,
#19
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-19)

देवश : सी..र्र प्लीज़ (कमिशनर बिना कुछ कहें केबिन से निकल जाता है देवश सबकी ओर देखकर झल्लाते हुए केबिन से जाने को कहता है उसका दिमाग सच में बहुत अपसेट हो जाता है)

एक तो साला नौकरी पे बात आ गयी और ऊपर से यहां से ट्रांसफर तो मतलब सारी छूटें ऊस्की हाथ से गयी ना काकी मां की चुत मिलेगी और ना ही शीतल की जो अभी उसके लिए खुली तक नहीं..देवश यक़ीनन काफी चिढ़ सा गया था काला साया से और उसने ठान लिया अब तो उसे काला साया को पकड़ना ही पड़ेगा क्योंकि बात उसके तबादले की आ चुकी थी

शाम जल्दी ढालने लगा…मौसम का मिज़ाज़ आज ठीक नहीं था…बस बदल गाराज़ रहे थे…पुराने खेत में शांतलाल बीड़ी फहुंक रहा था और कुटुम्ब का इंतजार कर रहा था इतने में उसे किसी का साया पीछे महसूस हुआ तो पाया काला साया आ चुका था….शांतलाल उसे देखकर मुस्कराया

शांतलाल : रांड़ अभीतक नहीं आई उसी का इंतजार कर रहा हूँ
काला साया : हम मैं जनता हूँ वो आएगी जरूर बात ऊस्की घर की इज्जत की है तुमने तैयारी रखी है ना सब
शांतलाल : भाई दुल्हन के लिए मंडप भी सजा दिया और सुहागरात का बिस्तर भी बस दुल्हन का इंतजार है
काला साया : हम ये लो इस दवाई को कहा लो दररो नहीं ज़हेर नहीं दे रहा सेक्स की गोली है इसे खाते ही तुम्हारे लंड में हॉर्स के लंड वाली पावर जितनी ताक़त आ जाएगी
शांतलाल : भैईई नाइकी और पुकछ पुच्छ दो तो सही

शांतलाल ने गोली कहा ली और फिर काला साया को तरक़ीब बताने लगा…अचानक उसे एक औरत लाल सारी में काफी सजी धजी आते दिख रही थी….”भा..ईई वॉ आ रही हे अब क्या करे?”…..काला साया मुस्कराया शांतलाल तो जैसे भड़क उठा वो तो जैसे घातक शेयर की तरह ऊसपे उसी वक्त टूट पढ़कर बलात्कार कर ही देता…पर काला साया ने रोका और फिर उसे झोंपड़े के अंदर आने को कहा और उसे एक मुकोता दिया कृष जैसा मास्क….शांतलाल जनता था ऊसने फौरन मास्क पहन लिया और फिर खुद के चेहरे को ठीक करते हुए बस कुटुम्ब के पास आने का इंतजार करने लगा दोनों ने छेद से झाँका कुटुम्ब यक़ीनन आज काफी खूबसूरत लग रही थी 38 की उमर और बदन इतना भारी लाल सारी में जेवेरात के साथ क्सिी ठकुराइन की तरह आई थी…उसके माथे की शिकार ऊस्की फ़िकरमंद और डर को साफ दिखा रहा था

पास आते ही वो वही खड़ी हो गयी और ऊसने इधर उधर देखते हुए अपने छोटे से फोन को कान में लगा लिया…एकदम से काला साया का फोन बज उठा…ऊसने फौरन फोन शांतलाल को दिया…ऊसने कहा की यहां से उसे काला साया की भूमिका निभानी है ताकि बाद में वो कुटुम्ब के मन में और डर बिता सके की काला साया कोई और नहीं खुद शांतलाल है…शांतलाल बस हमको के गुलाम की तरह वही करता है…फोन उठाते ही वो बाहर निकल जाता है पहले उसे लगता है कुटुम्ब उसे पहचान लेगी लेकिन फिर अपने सामने एक मोष्टंडे आदमी को हाथ का इशारा अपने पास करते देख कटुउंब सहेंटे हुए उसके करीब आने लगती है

कुटुम्ब जैसे उसके करीब आती है काला साया पीछे से गायब हो जाता है..”आररी वाहह आज तो तू पूर्ीी धीनचक आइटम लग रही है रे”…..शांतलाल मुस्कुराकर कुटुम्ब को ऊपर से नीचे तक देखते हुए कहता है…”चुप्प करो और ये बताओ एम एम एसे कहाँ है? मैं वही लेने आई हूँ”…..शांतलाल को बेहद गौर से देखते हुए कहती है उसे लग रहा था ऊसने उसे कहीं देखा है क्योंकि सिर्फ़ उसके चेहरे पे एक ही मुकोता था जबकि काला साया एक काला काप्रा के साथ एक और मुकोता लगता है

शांतलाल : हाहाहा काला साया से डर नहीं लगता तुझे यहां तुझे सिर्फ़ क्या एम एम एसे दिखाने भेजा हूओ
कुटुम्ब : देखू तूमम जो कर रहे हो ठीक नहीं हाीइ मैंन्न्न्
शांतलाल : अच्छा साली तू मुझे सिकहाएगी छल्ल मेरे साथ मैं कहा चल अगर अपने बेटे की खरयात और अपने घर की इज्जत चाहती है तो

कुटुम्ब चुपचाप शांतलाल के पीछे पीछे झोंपड़े में घुसती है….और ठीक तभी शांतलाल उसे कमर से पकड़ लेता है “ययई क्या कर रहे हो तूमम्म?”……शांतलाल उसके पेंट पे छुट्टी कांतके अपने बदन से चिपका लेता है

शांतलाल : तुझे क्या फ्री फंड में बुलाया हूँ रंडी छल्ल अब जैसा कहूँ वैसा कर वरना एम एम एसे तो तुझे नहीं मिलेगा और साथ में तेरी जान भी
कुटुम्ब : देख तुझे भगवान का वास्ता
शांतलाल : देखह मेरी बात मान जा वरना अभी तेरे गले को रंगायत दूँगा इस चाकू से (शांतलाल चाकू निकलकर कुटुम्ब के चेहरे पे लगा देता ही कुटुम्ब तार्र तार्र काँपते हुए आँसू टपकाने लगती है)
कुटुम्ब : थे.ए…सीसी है पर जो तुममहेंन्न करना हाीइ प्लीज़ किसी को मत बताना मेरा संसार उजध जाएगा मेरा पति मुझे घर से निकाल देगा
शांतलाल : शांत हो जा और अपनी आंखें मूंद ले

कुटुम्ब ने आंखें मूंद ली…और तभी उसके आंखों पे किसी ने बारे क़ास्सके पट्टी बंद्धि वो छटपटाने लगी….उसके बाद कोई इंजेक्शन उसके गले पे किसी ने लगाई ऊस्की तेज जलन उसे बर्दाश्त नहीं हुई ऊस्की एक चीख के बाद वो बेहोश हो गयी…..काला साया पीछे खड़ा था वो बेहोश कुटुम्ब को देख रहा था ऊसने अपने हाथ के इंजेक्शन को काले पॉलयथीन में फ़ेक दिया और उसे बाँधके अपने जेब में डाल लिया ताकि सबूत ना छूते यहां…शांतलाल ने मुकोता पहने ही कुटुम्ब को अपने कंधे पे उठा लिया उसका भारी वज़न उसके पूरा बदन पे जैसे झूल रहा था….शांतलाल कुटुम्ब के पिछवाड़े की महक पेटीकोट से बाहर ही सूंघते हुए उसे गाड़ी की ओर ले जाने लगा….काला साया भी फौरन गाड़ी पे सवार हो गया

जल्द ही दोनों एक बहुत ही बदनाम होटल पहुंच गये…फिर कुटुम्ब के पट्टी को खोल दिया और ऊसको अपने कंधे पे लटकते हुए होटल में आया होटल का रिसेप्षनिस्ट उसे ही घूर्र रहे थे….काला साया अपनी मुकोते को उतारके बारे ही गुप्त तरीके से सीडियो से ऊपर चढ़के दूसरे ओर से अंदर आया….होटल वाला सब जनता था ऊसने चाबी दी सबके सामने कुटुम्ब को ऊसने अपनी पत्नी बताया..होटल वाले ने आँख मर दी दोनों ने सिग्नेचर किए झूते टूर से और फिर जल्द ही होटल के कमरे में आकर कुटुम्ब को बिस्तर पे पटक डाला…जल्द ही दरवाजे पे दस्तक हुई काला साया अंदर आया और ऊसने दरवाजा लगा दिया…ऊसने फौरन शांतलाल के हेल्प के थ्रू होटल के कैमरा को हर एंगल से ऑन कर दिया..

जल्द ही कुटुम्ब को होश आया और वो फिर चीख के उठ कहर इहुई….शांतलाल ने उसे जूस दिया…कुटुम्ब के रज़ामंदी के ना बावजूद भी ऊसने जूस पी लिया…उसे थोड़ी ताक़त आई शरीर में….”तुझे बेहोशी का एक छोटा सा इंजेक्शन मारा था यहां लाने के लिए तुझे क्या लगता है ? मैं इतना चूतिया हूँ जो तुझे वहां खेतों में ही चोदता”…..कुटुम्ब हाथ पैर जोड़के रोने लगी मिन्नटें करने लगी
Reply

09-17-2021, 12:07 PM,
#20
RE: Antarvasnax काला साया – रात का सूपर हीरो
(UPDATE-20)

“देख रोने का कोई फायदा नहीं जो कर रहा हूँ कर लेने दे तेरा भी कुछ नहीं बिगड़ेगा मेरा भी नहीं यहां से भागना मत बाहर मेरे ही लोग है तुझे पकड़कर अंदर ले आएँगे जगह बदनाम है किसी के हटते चढ़ गयी तो बैच देगा चुपचाप जो करना चाहता हूँ कार्वाले और फिर तुझे फिर चोद दूँगा”……कुटुम्ब हार मान गयी ओसोका दिल बैठा जा रहा था

कुटुम्ब ने फौरन सुबकते हुए अपनी सारी खोलने लगी…”शब्बाशह”….शांतलाल तहाका लगाकर हस्सने लगा..वो फौरन कुटुम्ब के करीब आया और ऊसने कुटुम्ब का पल्लू खींच के उतार दिया और फिर उसका ब्लाउज भी फाधने लगा कुटुम्ब उससे छुड़ाने लगी…पर फरका नहीं पड़ा कुटुम्ब के दो स्तनों टूट गये…और ऊस्की वाइट ब्रा अंदर से दिखने लगी…शांतलाल ने ऊस्की ब्रा के बीच में ही उंगली डालकर उसे इतनी ज़ोर की खींचा की ब्रा का हुक टूट गया और ब्रा फर्श पे गिर पड़ी…कुटुम्ब अपने छातियो को हाथों से छुपाने लगी

शांतलाल खुद पे काबू नहीं कर पा रहा तो उसने धीरे धीरे कुटुम्ब के हाथ हटा दिए…और उसके छातियो को देखते ही पागलों की तरह हाथों में भरके दबाने लगा और उसे चुस्सने लगा…उसके कड़े मोटे निपल्स मुँह में भरते ही कुटुम्ब सिहर उठी….शांतलाल बारे ही काश क़ास्सके दोनों चुचियों को दबाए जा रहा था…और अपना चहरा छातियो के बीच रगड़ रहा था….कुटुम्ब बस सिसक रही थी कमरा में सबकुछ रिकार्ड हो रहा था…क्‍ाअल साया हर एक एंगल को ज़ूम करके दोनों की रासलीला का वीडियो चुत कर रहा दूसरे कमरे के सी सी टी अभी के थ्रू

शांतलाल झट से कुटुम्ब के पेटीकोट के नारक होल्के उसे बारे ही बुरी तरीके से नीचे खिकच देता है कुटुम्ब के जाँघ से लेकर कमर तक लाल निशान पढ़ जाता है वो ज़ोर से चिल्लाती है पर शांतलाल रुकता नहीं और अपने हाथ ऊस्की खुली पैंटी पे फहीराने लगता है…कुटुम्ब उसका हाथ बार बार रोकती है पर कुछ फायदा नहीं होता….शांतलाल ऊस्की चड्डी को ज़ोर से खिसकाके फाड़ देता है कुटुम्ब ज़ोर से चिल्लाती है और शांतलाल पे गुस्सा होने लगती है पर शांतलाल पे जो बदला और सेक्स का जुनून चढ़ा था उससे तो ओसोका बचना नामुमकिन ही था….कुटुम्ब के मोटे सूजी चुत को मुट्ठी में भरके शांतलाल दो तीन बार दबा देता है…कुटुम्ब ज़ोर से सिहर जाती है वो खड़ी खड़ी काँपने लगती है

फिर शांतलाल मुट्ठी में कैद चिड़िया को कुछ देर दबाते हुए ऊस्की चुत में पूरा का पूरा मुँह घुसा देता है कुटुम्ब को एक बिजली का झटका लगा था वो उसे रोकने लगती है पर शांतलाल बारे ही बेरहेमी से ऊस्की चुत में मुँह घुसाए छांट रहा था ये साफ कमेरे पे शो हो रहा था….कुछ देर बाद शांतलाल कुटुम्ब को वैसे ही बिस्तर पे लैटाके उसके जांघों को अपने कंधे पे रखकर अपना पूरा मुँह चुत पे दबाने लगता है ऊसपे घिस्सने लगता है कुटुम्ब बस सिसक रही थी बार बार मुँह पे हाथ रख रही थी

और इतने में ही उसे सांखलन हो जाता है वो झधने लगती है शांताल ऊस्की भीनी रस की खूबसू सूँघे उसे चाटने लगता है और ऊस्की चुत के ऊपर से नीचे तक जुबान से साफ करता है फिर वो कुटुम्ब अपने नीचे बैठा देता है “चलो जानेमन अपने पति का लंड मुँह में लो”……कुउत्मब मना करती है पर कुटुम्ब के चेहरे को सख्त इसे पकड़कर शांतलाल उसे अपने लंड पे रगड़ने लगता है कुटुम्ब को उबकिया आने लगती है

पर उसके गले को जब क़ास्सके दबोचता है तो कुटुम्ब की साँसें अटक जाती है तब जाकर उसे अपने शांतलाल का लंड मुँह में लेना पड़ जता है…पहले दो तीन बार मुँह से बाहर कर देता है…पर कुटुम्ब बारे ही मुश्किल से उसका मुँह में लंड लेकर बस रखे रहती है “आबे चूस ना”….शांतलाल एक करारा धक्का कुटुम्ब के मुँह पे मर देता है लंड गले तक पहुंच जाता हाीइ कुटुम्ब तड़पने लगती है

फिर शांतलाल ज़ोर ज़ोर से कुटुम्ब के मुँह में ही मुख मैथुन स्टार्ट कर डेटह आई…कुतुब अब आंखें बंद किए रोते रोते शांतलाल के लंड को चुस्सथी है…और ज़ोर से और ज़ोर से स्लूर्रप्प्प के इयवाज़ मुँह से आती है…बीच बीच में शांतलाल झुककर मुँह में लंड डाले कुटुम्ब के गान्ड पे भी छपात मारता हाीइ

कुछ देर बाद कुटुम्ब खुद ही लंड चुस्सते रहती है…और फिर शांतल्ला लंड मुँह से निकल देता है कुटुम्ब गहरी साँसें लिए बिस्तर के कॉर्नर पे बैठ जाती है…शनलाल उसे फिर उठाकर बिस्तर पे लेटा देता है और ऊस्की टाँग खोल देता है “चल अब तुझे चोदूंगा”…..कुटुम्ब के लाख मना करने के बावजूद भी शांताला लृक्ता नहीं…वो फौरन अपने पूरी बढ़हास्स्स कुटुम्ब के चुत पे टिकाए लंड से निकलता है…पर लंड अंदर घुस्सता नहीं शांतलाल अपने थूक और पॉकेट से एक लूब्रिकॅंट निकलटः आई उसे लंड पे लगतः आई और ऊस जेल को चुत के मुआने पे भी लगा देता है धायर सारा…और फिर एक ज़ोर डर धक्का पेलता है…कुटुम्ब ज़ोर से चिल्ला उठती है…इतनी ज़ोर से की स्पेअकर पे ऊस्की आवाज़ गूंज उठती है…काला साया बस मुस्करा उठता है

शांतलाल बारे ही काश क़ास्सके चुत में धक्के मारने लगता है….कुटुम्ब अब दाँत पे जुबान लगाए झटकों को सहन कर ने लगती है…और बारे ही करार धक्को को झेल रही होती है….शांतलाल जानवर की तरह उसे चोद रहा था ऊस्की चुत से फहक्च फच्छ की आवाज़ साफ सुनाई दे रही थी….कुछ करार धक्को में ही कुटुम्ब ना च्चटे हुए भी शांतल्ल को कसके रोक लेती है और वो फिर झड़ जाती है…शांतल्ल को बड़ा मजा आया और वॉ धक्के लगातार लगता रहा सेक्स की गोली का अच्छा ख़ास्सा फायदा था शांताला झड़ ही नहीं रहा था

शांतलाल ने फौरन चुत से लंड बाहर खींचा और हाँफती कुटुम्ब को अपने ऊपर ले लिया अब कुटुम्ब शांतलाल के ऊपर चधीी लंड को चुत में लेने लगती है…या यूँ कह लीजिए शांतलाल के सख्त हाथ खुद लंड को चुत के मुआने में घुसाने लगते है…..कुटुम्ब बस बारे ही ज़ोर ज़ोर से उछालने लगती है और फिर लंड पे ही गान्ड रगड़ देती है उसके मोटे पिछवाड़े के अंदर लंड ऐसे धासा था जैसे ड्रिल मशीन दीवार में छेद कर देती हो

कुछ देर बाद कुटुम्ब खुद लंड पे कूदने लगती हाीइ पूरा बाहर शांतलाल के जिस्म पे होता है वॉ बस कुटुम्ब के चूतड़ और कमर को मसलते हुए कुटुम्ब को अपने ऊपर कूदवा रहा होता है…कुटुम्ब्ब आहह आहह उहह आहह करके कूद रही होती है…बीच बीच में सेक्स उठाने के लिए शांतलाल छातियो को भी क़ास्सके दबाने लगता है….ओसॉके निपल्स को मसलने लगता है कुटुम्ब से अब और सहन नहीं होता वो और चुदने के काबिल नहीं होती लेकिन शांतलाल नहीं मानता और उसे उसी हालत में खूब चोदता है

कुछ देर बाद पोस्चर बदल जाता है कुटुम्ब किसी गाय की तरह खड़ी होती है और किसी सांड़ की तरह खड़े खड़े शांतलाल कुटुम्ब की गान्ड मारता है….कुउत्मब को बेहद सख्त दर्द हो रहा था चुत का हाल तो बुरा ही था और गान्ड का भी आज पति के अलावा एक गैर मर्द के साथ सो रही थी वो…शांतलाल बस धक्के लगाए रहता है….कुटुम्ब आहहह आहह यू म्मा आहह आस्ती बोलते बोलते चीख रही होती है…..लेकिन शांतलाल अभीतक झड़ा नहीं था….और कुछ ही पल में वो कुटुम्ब की गान्ड से लंड निकलकर उसके मुआने पे मुँह लगा देता है एक तो काली गान्ड ऊपर से शांतलाल ने उसके गान्ड के छेद पे मुँह लगा दिया….शांतलाल के छुपी हसरत आज कुटुम्ब के साथ चुदाई की कसर से निकल रही थी

“अब बॅस करूं आहह मैं और से नहीं पौँगीइ”……शांतलाल कुछ बलटा नहीं और फिर टाँगें चौदीी किए ज़मीने पे ही कुटुम्ब को पट्टक्के उसके ऊपर चढ़ जाता है दोनों चुदा का गहरा खेल खेलने लगते है…चुत से अब लंड बारे ही आराम से अंदर बाहर हो रहा था….कुटुम्ब सिसक रही थी उसे बेहद शर्मिंदगी महसूस हो रही थी शांतलाल उसके होंतोप ए होंठ लगाए उसे अभी किस कर रहा था…और ठीक उसी पल कुटुम्ब ने एक चाल चली और ऊसने फौरन शांतलाल का मास्क उतार दिया…शांतलाल एकदम कत्तुआ गया पर वो धक्के मारता रहा रुका नहीं..शांतलाल के ओदेखके कुटुम्ब की साँसें थाम गयी उसे लगा की वो फोन कॉल वो ढँक भारी बातें इसका मतलब वो काला साया नहीं बल्कि शांतलाल था…..

ये सब सोचते ही उसके रौूंगते खड़े हो गये वो मुँह पे हाथ रखक्के शांतलाल को सहमी निगाहों से देखने लगी “तेरे पतीी ने जो मेरे सहत किया उसे मैं भुला नहीं हूँ रंडी की जानी आज तुझे मैं बक्षुंगा नहीं आहह आहह आहह ले मेरा बीज़्ज़ज्ज”…..और शांतलाल 2 घंटे की इस चुदाई के बाद झधने लगता है….उसका सारा रास चुत को भेगोटे हुए पूरी गान्ड तक भिगो डालता है
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 122 942,901 6 hours ago
Last Post: nottoofair
Star Free Sex Kahani लंसंस्कारी परिवार की बेशर्म रंडियां desiaks 51 337,368 10-15-2021, 08:47 PM
Last Post: Vikkitherock
Lightbulb Kamukta kahani कीमत वसूल desiaks 141 631,273 10-12-2021, 09:33 AM
Last Post: deeppreeti
Thumbs Up bahan sex kahani ऋतू दीदी desiaks 103 405,489 10-11-2021, 12:02 PM
Last Post: deeppreeti
Tongue Rishton mai Chudai - दो सगे मादरचोद desiaks 63 81,145 10-07-2021, 07:01 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Indian Sex Kahani चूत लंड की राजनीति desiaks 75 68,358 10-07-2021, 04:26 PM
Last Post: desiaks
  Chudai Kahani मैं और मौसा मौसी sexstories 30 165,303 09-30-2021, 12:38 AM
Last Post: Burchatu
Star Maa Sex Kahani मॉम की परीक्षा में पास desiaks 132 702,085 09-29-2021, 09:14 PM
Last Post: maakaloda
Star Incest Kahani पापा की दुलारी जवान बेटियाँ sexstories 228 2,352,293 09-29-2021, 09:09 PM
Last Post: maakaloda
Star Desi Porn Stories बीबी की चाहत desiaks 86 315,197 09-29-2021, 08:36 PM
Last Post: maakaloda



Users browsing this thread: 2 Guest(s)