Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
12-27-2021, 01:01 PM,
#21
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
बातें करते करते साढ़े नौ बज चुके थे, तो प्लान के मुताबिक पति ने कहा कि उनको अब नींद आ रही हैं तो सो जाते हैं।

मैंने कहा कि इतनी जल्दी क्या हैं, रोज तो देर से सोते हैं।

रंजन ने भी हां में हां मिलाई कि थोड़ी देर और बात करते हैं।

पति ने कहा कि आज ऑफिस में काम बहुत था तो थकान हो रही हैं तो बैठे बैठे नींद की झपकी आ रही हैं उनको तो सोना हैं।

हमें तो सोना था नहीं तो वो खिड़की के पास एक तरफ सो गए ताकि बाकी की जगह में हम बातें कर सके। उन्होंने एक छोटा चद्दर लिया और ओढ़ कर सोने का नाटक करने लगे।

मैं और रंजन अब स्कूल के समय की बातें करने लगे, अपने टीचर और अपने क्लासमेट को याद करने लगे। पता नहीं नहीं चला कब समय निकल गया।

मैंने अब रंजन से कहा अब सो जाते हैं, तुम भी थक गए होंगे।

रंजन ने कहा ठीक हैं, पर जगह बहुत कम हैं, तीनो को एक करवट सोना पड़ेगा। भैया को जगा देते हैं वो बीच में सो जायेंगे।

मैंने उसको टोकते हुए कहा, नहीं, इनको सोने दो गहरी नींद में उठाना ठीक नहीं हैं, उठाया तो वापस नींद मुश्किल से आएगी।

मैंने कहा मैं इनके पास सो जाती हूँ यहाँ बीच में और तुम मेरे पीछे सो जाना। एक रात की ही तो बात हैं हम एडजस्ट कर लेंगे।

रंजन ने पूछा कुछ ओढ़ने के लिए हैं क्या?

मैंने एक थोडी बडी चद्दर उसको देते हुए कहा कि छोटी वाली सिंगल चद्दर तुम्हारे भैया ने ओढ़ रखी है, मेरे पास ये डबल वाली चद्दर हैं ये तुम ओढ़ लो।

रंजन ने आनाकानी की, नहीं आप ओढ़ लो, आप क्या करोगे?

मैंने कहा चिंता मत करो मुझे वैसे भी जरुरत नहीं पड़ेगी। अगर जरुरत पड़ी तो तुमसे मांग लुंगी।

अब मैं पति की तरफ मुँह करके करवट लेकर सो गयी। मैंने अपने और पति के बीच में थोड़ी जगह छोड़ दी ताकि मेरे पीछे रंजन के सोने के लिए ज्यादा जगह ना बचे।

अब रंजन मेरे पीछे बची हुई जगह में लेट गया। ज्यादा जगह थी नहीं तो वो मुझसे सिर्फ चार इंच की दुरी पर रहा होगा।

अगर वो जोर की सांस लेता तो मुझे पीछे छोड़ी हुई सांस महसूस होती इतना नजदीक था। केबिन की लाइट पहले ही बंद कर दी थी, रास्ते में रोड लाइट की रोशनी कभी कभार हमारे केबिन में खिड़की के कांच से आती।

मैं अब इंतज़ार करने लगी कब वो पहली हरकत करेगा। एक दो बार वो हिला भी जब उसका शरीर मुझसे थोड़ा छू गया पर इसके अलावा कुछ हुआ नहीं।

अब मैंने ठण्ड लगने की एक्टिंग की और थोड़ा सिकुड़ गयी। रंजन ने चद्दर ओढ़ रखा था तो उसको लंबा करते हुए मुझे भी ओढ़ा दिया।

मैंने पलटते हुए कहा तुमको पूरी आ रही हैं न चद्दर। मुझे ओढ़ाने के चक्कर में खुद से मत हटा लेना।

उसने कहा नहीं ठीक हैं मेरे पास भी हैं।

मैंने उसको कहा थोड़ा ओर पास में खिसक जाओ पर पूरा ओढ़ कर रखना।

अब हम दोनों एक ही चद्दर में थे और मेरे कहे अनुसार वो ओर भी पास में खिसक कर लेटा था।
Reply

12-27-2021, 01:02 PM,
#22
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
अब रह रह कर हमारी बॉडी टच हो रही थी। बीच बीच में, मैं ही थोड़ा हिल कर अपने शरीर को थोड़ा छुआ देती उससे। इस छूने वाला खेल काम कर रहा था। वो उत्तेजित होकर जानबूझ कर अब वो एक बार छू जाने के बाद शरीर वही चिपकाये रख रहा था।

मैंने अब तेज गहरी सांसें निकालना शुरू कर दिया, जिससे उसे लगे कि मैं सो रही हूँ। अब उसके नाक से निकलती सांसें मैं अपने गर्दन पर महसूस कर रही थी, वह मेरे बहुत नजदीक आ चूका था। थोड़ी ही देर में उसके होठ मेरे गर्दन और कान के नीचे चुमते और दूर हो जाते।

अगली बार जैसे ही वो अपने होठ मेरे गर्दन के पास लाया, मैंने अपनी गर्दन थोड़ी सी घुमाई जिससे उसके होठ तेजी से मेरी गर्दन पर टकरा कर छू गए और चुम्मा ले लिया। उसके होठ वही चिपक गए, उसने हटाए नहीं। उसको मजा आ रहा था।

थोड़ी देर ऐसे ही वो अपने होठ मेरी गर्दन पर हलके हलके फेरता रहा। मुझे एक मीठी गुदगुदी हो रही थी।

उसने अपना शरीर मेरे पिछवाड़े से चिपका दिया, मैं उसकी पैंट के अंदर के अंग को महसूस कर पा रही थी। वो अंग अब कड़क हो चूका था, मतलब वो तैयार था बस हिम्मत करने की देर थी। वो अपने शरीर को अब हल्का सा ऊपर नीचे कर मेरे पिछवाड़े पर रगड़ रहा था।

उसने अब हिम्मत करके अपना हाथ मेरी पतली कमर पर रख दिया। मेरे हाथ ऊपर आगे की तरफ थे जिससे मेरा शार्ट शर्ट कमर से थोड़ा ऊपर उठ चूका था।

जिससे उसका हाथ मेरी नंगी कमर पर छू रहा था। मेरी पतली कमर उसके हाथ की उंगलियों और अंगूठे के बीच आराम से समा गयी। कमर को पकडे हुए उसकी उंगलिया मेरे कमर पर चल रही थी।

उसके हौंसले अब थोड़े और बढे तो उसने कमर पर रखा हाथ धीरे धीरे खिसका कर शर्ट के अंदर डाल कर ऊपर की तरफ बढ़ाना शरू किया।

कुछ ही देर में उसकी एक ऊँगली मेरे ब्रा को छू गयी और अंदर के वक्ष थोड़े दब गए। उसके हाथ वही रुक गए और वो ऊँगली कुछ देर वक्षो को ऐसे ही छूती रही।

वो एक बार फिर हाथ को खिसकाते हुए मेरे नाभी तक ले आया और अपना पंजा पूरा मेरे पेट पर फैला दिया। काफी देर तक वह हाथ मेरे पेट पर फेराता रहा, शायद पति के पास लेटे होने से उसकी हिम्मत नहीं पा रही थी आगे बढ़ने की।

मैंने सोचा अब मुझे ही कुछ करना पड़ेगा। अब तक हमारी साजिश का एक रूल था कि सारी हरकते सामने वाले को ही करनी थी, मुझे तो सिर्फ ब्लेम गेम खेलना था काम होते ही। पर आज बात अलग थी।

मैंने उसको थोड़ा सा ग्रीन सिग्नल देने के लिए अपना हाथ उसके हाथ पर रखने के लिए नीचे खिसकाया। मुझमे हरकत होते देख वो डर गया और अपना हाथ तुरंत मेरे पेट से हटा लिया और पीछे से थोड़ा दूर भी हट गया। मुझे अफ़सोस हुआ, मैंने तो उल्टा काम बिगाड़ कर उसको डरा दिया।

मुझे पता था कि उसको मजा तो आया होगा, इसलिए वो फिर से कोशिश जरूर करेगा। उसको सरप्राइज के साथ ग्रीन सिग्नल देने के लिए मैंने अपने शर्ट के सारे बटन खोल कर शर्ट को सामने से पूरा पीछे हटा दिया। अब मैंने अपने हाथ फिर से पुरानी स्तिथि में ऊपर की तरफ ले गयी।

ज्यादा इंतज़ार नहीं करना पड़ा, रंजन जल्द ही फिर मुझसे चिपक गया और अपना हाथ मेरे कूल्हे पर रख दिया, जहा मेरी कैपरी कमर से बंधी हुइ थी।

अब वो अपना हाथ धीरे धीरे खिसकाते हुए कमर से होते हुए नाभी तक ले आया। पिछली बार की तरह फिर उसने अपना हाथ शर्ट में घुसाने की कोशिश की। पर शर्ट तो उसको छुआ ही नहीं, वो तो मैं पहले ही हटा चुकी थी।

वो दो तीन इंच और आगे बढ़ा पर शर्ट का नामोनिशान नहीं था। चद्दर ओढ़े होने से वो देख भी नहीं पा रहा था कि शर्ट कहाँ हैं।

उसको अब अहसास हो गया था कि शर्ट तो हैं ही नहीं, मैंने ही निकाला होगा। वो खुश हो गया मेरे सिग्नल को देख कर। एक झटके में उसने अपना पंजा मेरे ब्रा पर मारा और मेरा एक वक्ष दबोच लिया और मसलने लगा, जैसे अपनी जीत का जश्न मना रहा हो।

पर किला तो अभी फतह करना बाकी था। उसने मेरे ब्रा में हाथ डाल कर मेरे वक्षो को छूने की कोशिश की। पर ज्यादा कामयाबी नहीं मिली तो अपने हाथ पीछे ले जाकर मेरे आधे खुले शर्ट में घुसा कर ब्रा का हुक खोलने की कोशिश करने लगा।

पर उसकी आदत तो थी नहीं तो थोड़ी देर संघर्ष करता रहा एक हाथ से वो टाइट हुक खोलने की।

जैसे ही उसने हुक खोला तो शायद बहुत खुश हुआ और इसी ख़ुशी में मेरी बगल से होते हुए अपना हाथ मेरे ब्रा में डाल दिया और मेरे वक्ष को भींच लिया।
Reply
12-27-2021, 01:02 PM,
#23
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र


मुझसे इतना इंतज़ार नहीं हुआ। मैं अपना फ्री हाथ पीछे की तरफ ले गयी और उसकी जींस का बटन खोल दिया। फिर उसकी चैन नीचे करके उसके अंतवस्त्र में हाथ डाल दिया।

मेरा हाथ उसके कड़क अंग को छू गया। मैंने उसको पकड़ा और अपने हाथ से उसको ऊपर नीचे रगड़ने लगी। उसको तो जैसे करंट लगा। उसके होठ मेरी गर्दन और कंधो को चूमने लगे।

मैंने अपना हाथ बाहर निकाल कर उसकी जीन्स को नीचे खींचने लगी, पर हाथ पीछे होने से इतना जोर नहीं लगा पाई। उसने मेरे वक्षो को छोड़ा और मेरी मदद के लिए अपने अंतवस्त्र सहित जींस नीचे खिसका दी। उसका लंड अब जींस के बंधन से मुक्त हो गया था, और मेरे तैयार होंने के संकेत भी मिल गए।

अब उसने मेरी केपरी के बटन और चैन खोल दी और नीचे खिसका कर घुटनो तक ले गया। उसके बाद मैंने ही अपने दोनों टांगो को झटकते हुए केपरी सहित अंतवस्त्र अपनी एक टांग से पूरा निकाल दिया।

उसने हाथ मेरे नंगे कूल्हों पर रख दिए और मेरे फिगर को महसूस करने लगा। वो घुटनो से लेकर मेरे चुचियों तक अपने हाथो को मेरे बदन के ऊपर नीचे रास्तो की सैर करवा रहा था। इस बीच उसका कड़क लंड मेरे पिछवाड़े को छू रहा था।

उसने अब हाथ मलना छोड़ा और अपना लंड पकड़ कर मेरी दोनों टांगो के बीच डाल कर धक्का मारने लगा। मैं अपना हाथ नीचे ले गयी और उसके लंड को पकड़ कर सही रास्ता दिखाते हुए आगे के छेद में लगा दिया। इतनी देर की मालिश से वैसे भी पानी बनाने लगा था। वो तेजी से मेरे अंदर प्रवेश कर गया।

एक बार अंदर डालने के बाद तो उसका नियंत्रण ही नहीं रहा। वो झटके पर झटके मारने लगा। हमारे पास हिलने को ज्यादा जगह नहीं थी तो वो जोर से नहीं मार पा रहा था, पर फिर भी काफी गहराई में उतर रहा था। इन सबके बीच उसका एक हाथ बराबर मेरे चुचों को दबा रहा था।

मैंने भी बदन दर्द के मारे पिछले कुछ दिनों से नहीं किया था तो मैं वैसे भी तड़प रही थी। अगले दस बारह मिनट तक वो ऐसे ही मजे लेता रहा। अब उसने अपने आप को मुझसे अलग कर लिया।

मेरे कंधो पर हाथ रख अपनी तरफ घुमाया। मैं पलट कर अब उसकी तरफ मुँह करके लेट गयी। जिससे चद्दर मेरे ऊपर से हट गयी।

अब उसने मेरे दूसरे हाथ से भी शर्ट और ब्रा पूरा निकाल दी जिससे मैं टॉपलेस हो गयी। उसने मेरे होठों पर अपने होठ रख दिए और चूसने लगा। मैंने भी उसके होठों को चूसना शुरू किया। हम दोनों को नशा चढ़ने लगा।

उसने एक बार फिर अपना लंड पकड़ा और मेरे अंदर डालना शुरू किया। मैने अपनी ऊपर वाली एक टांग उठा कर उसकी जांघो पर रख दी, जिससे मेरा छेद ओर खुल जाये और उसको अंदर डालने की ज्यादा जगह मिल सके।

एक बार फिर वो मेरे अंदर था और झटके पे झटके मार रहा था। हम दोनों के होठ चिपके हुए थे और रासपान कर रहे थे साथ ही बीच बीच में उसका हाथ मेरी चुचियों को दबा रहा था।

मैंने अपनी पीठ पर एक हाथ फिरते हुए महसूस किया। रंजन का एक हाथ नीचे दबा था और दूसरा मेरे सीने पर तो पीठ वाला हाथ पति का ही था। शायद वो बताने की कोशिश कर रहे थे कि हमारी साजिश सही जा रही हैं।

जैसे ही रंजन ने अपना हाथ मेरी कमर पर रखा मेरे पति ने अपना हाथ पीछे खींच लिया। थोड़ी देर में जैसे ही रंजन चरम की तरफ बढ़ा तो उसने मुझे पीठ से कस कर पकड़ अपने सीने से चिपका दिया और ओर भी गहरे झटके मारने लगा। बस के तेज चलने की आवाज़ों के बीच हमारी आवाज़े दब सी गयी थी।

मेरा भी पानी निकलने लगा था और उसके पानी से संगम होने लगा। चरम पे पहुचते ही उसने पता नहीं कब से संभाल कर रखा हुआ ढेरो चिपचिपा पानी मेरे अंदर पूरा खाली कर दिया।
Reply
12-27-2021, 01:02 PM,
#24
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
पानी इतना था कि खाली होने में ही कुछ सेकंड लग गए। थोड़ी देर ऐसे रहने के बाद उसने लंड बाहर निकाला।
इतना पानी निकला था कि मेरे नीचे पूरा गंदा हो गया था। मैं खुश थी कि इतने पानी से मेरा काम तो हो ही गया होगा। मैंने सर के पास रखे पर्स में पहले से रखे पेपर नैपकिन निकाले और थोड़े उसको दिए।

अब हम दोनों अपने अपने अंगो को साफ़ करने लगे। फिर गंदे नैपकिन एक थैली में रखकर कोने में रख दिए।

हमने अपने कपडे वापिस पहन लिए, और फिर से पहले वाली पोजीशन में चद्दर ओढ़ कर सो गए।

आधी रात के करीब रास्ते में एक ढाबे पर बस रुकी तो रंजन वो नैपकिन की थैली बाहर फेंक आया और एक बार फिर सो गया।

सुबह छह बजे मेरी नींद खुली मैंने घडी देखी। बाहर अभी भी अँधेरा था। मुझे याद आया कि सुबह का सेक्स गर्भवती होने के लिए ज्यादा फायदेमंद हैं। मैंने सोचा मुझे एक बार फिर से करना चाहिए। परन्तु पति तो सो रहे थे उनकी इजाजत कैसे लेती।

उनको उठाने के चक्कर में रंजन को पता चल जाता तो। मैंने पलट कर देखा रंजन भी रात की मेहनत के बाद चैन से सो रहा था। ये आखरी मौका था मेरे लिए। माँ बनने का लालच मेरे दिल पर हावी हो गया और सो मैंने उसको जगाने का फैसला किया।

मैं अपना हाथ पीछे ले गयी और एक बार फिर उसकी जीन्स का बटन और चैन खोल कर उसके अंगवस्त्र में अपना हाथ डाल दिया। उसका लंड भी रात की मेहनत के बाद सोया पड़ा था।

मैं अब उसकी छोटी नरम चीज़ को हाथ से ऊपर नीचे कर मसलने लगी। रंजन की आँख खुली और उसने अपना हाथ मेरी जांघो पर रख दिया।

थोड़ी देर रगड़ने के बाद ही उसका लंड धीरे धीरे विशाल रूप धारण करने लगा। थोड़ी देर पहले मैं अपनी दो तीन उंगलितो से उसको रगड़ पा रही थी अब एक पूरी हथेली भी छोटी पड़ रही थी।

जैसे ही वो काम करने लायक कड़क हुआ तो मैं उसको छोड़ दिया और उसकी जींस नीचे खिसकाने का इशारा किया। जब तक उसने अपनी जीन्स नीचे की मैंने भी अपनी केपरी और अंतवस्त्र खोल कर नीचे कर दिए।

मेरे कपडे खोलते ही उसका लंड मेरे नग्न पिछवाड़े से टकरा गया। उसने बिना इंतज़ार करे अपना लंड पकड़ कर मेरे पीछे वाले छेद में डालने का प्रयास करने लगा। मुझे तो उसका माल आगे वाले छेद में चाहिए था न कि पीछे वाले में।

मैं अपना हाथ पीछे ले जाकर उसको रोकती तब तक तो उसने एक दो इंच अंदर डाल ही दिया और आगे पीछे मारने भी लगा। मुझे दर्द हुआ, और अपने शरीर को उससे थोड़ा दूर कर दिया जिससे उसका लंड बाहर निकल गया।

मैंने अब खुद ही बिना देर किया उसका लिंग फिर पकड़ा और एक टांग उठा कर अपने आगे के छेद में घुसा दिया। उसकी मशीन एक बार फिर चालु हो गयी और झटके मारने लगी।

सुबह के समय थोड़े सेंसेशन कम होते हैं तो उसको मजा कम आ रहा था। ज्यादा मजे के लिए उसको जोर से झटके मारने थे। पर उतनी जगह तो वह थी नहीं। मुझे एक ऊपर सुझा।

अगर आपको यह कहानी पसंद आ रही है, तो सबसे पहली हिन्दी सेक्स की कहानी जरुर पढियेगा। वह भी आपको जरुर पसंद आएगी।

मैंने उसका पिछवाड़ा एक हाथ से पकड़ा और अपनी तरफ खींचते हुए मैं मुँह के बल उल्टा लेट गयी और वो मेरे ऊपर सवार हो गया। चद्दर ऊपर से हट कर मेरे और पति के बीच आ गिरी। मेरी पैंट घुटनो पर अटकी थी तो मैंने जितना हो सकता था दोनों पाव थोड़े से फैला दिए।

उसने अपने दोनों हाथ मेरे हाथों पर रखे और अब वो ऊपर नीचे होते हुए जोर से मेरे पीछे झटके मारने लगा। उसको इस बात की भी परवाह नहीं रही कि मेरे पति पास में सो रहे हैं।

वो इतनी जोर से मेरे पिछवाड़े से टकरा रहा था कि जोर जोर से आवाज़ हो रही थी। जोर के झटको की वजह से थोड़ी ही देर में हम छूटने की हालत में आ गए।

तभी इन आवाज़ों से मेरे पति की नींद में व्यवधान आया और वो थोड़े से हिले। उन्हें तो पता नहीं भी था कि हम दोनों सुबह भी करने वाले थे।

रंजन घबरा कर मेरे ऊपर से हटा और लुढ़क कर अपनी जगह वापस लेट गया। मैंने भी पति की तरफ करवट करते हुए पास रखा चद्दर ओढ़ लिया। रंजन ने भी पीछे से चद्दर अपने ऊपर ओढ़ लिया।

रंजन एक बार फिर मेरे पिछवाड़े से चिपक गया। रंजन चरम के काफी नजदीक जाकर बाहर निकला था सो उस ने एक बार फिर मेरे अंदर प्रवेश किया। उसके झटके फिर से शुरू हो गए। उसने अपना एक हाथ भी मेरे शर्ट में घुसाते हुए मेरे ब्रा को दबोच लिया।

पति ने अब आँख खोली और मेरी तरफ देखा। मेरी आँखें खुली थी। रंजन को भी पता चल गया तो उसने झटके मारना बंद कर दिया पर लंड अभी भी मेरे अंदर ही था। अब वो बहुत ही होले होले अंदर बाहर कर रहा था, इतना धीरे की मैं बिलकुल ना हिलु और पति को शक न हो।
Reply
12-27-2021, 01:02 PM,
#25
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
पति ने पूछा नींद कैसी आयी, मैंने कहा ठीक। रंजन के धीरे धीरे ही सही, अंदर बाहर लंड के रगड़ने से मैं अब चरम की तरफ बढ़ने लगी, रंजन की भी यही हालत थी।

पति के इन्ही सवालों जवाबो के बीच रंजन छूट गया और साथ में मैं भी। उसने तो अपनी आवाज़ दबा ली, पर मेरे मुँह से एक जोर की आह निकल ही गयी।

अगले ही क्षण मैंने अपनी आह को चालाकी से उबासी में तब्दील कर दिया और पति को शक न होने दिया कि पीछे से रंजन मेरे साथ क्या कर रहा हैं।

रंजन ने मेरे अंदर से अपना सामान बाहर निकाला और बिना ज्यादा हिले चद्दर के अंदर ही अपनी जीन्स ऊपर खिसका के पहन ली।

मैंने भी हाथ नीचे ले जाकर अपनी पैंट ऊपर खिंच कर पहन ली। रात को ही उसने अपना बहुत सारा पानी निकाल दिया था तो अभी सुबह ज्यादा पानी नहीं निकला, जिससे साफ़ सफाई की ज्यादा चिंता नहीं थी।

थोड़ी देर ऐसे ही लेटे लेटे बात करने के बाद हम सब उठ बैठे। थोड़ी ही देर में मंजिल आने वाली थी तो अपने आप को व्यवस्थित कर तैयार होंने लगे।

पता नहीं पति को मेरे और रंजन के बीच सुबह बने सम्बन्धो का पता चला कि नहीं, मैंने भी आगे बढ़कर कभी पूछा नहीं। बस से उतर कर हमने रंजन से विदा ली, उसके बाद उससे कभी मिलना नहीं हुआ वह बहुत दूर जा चूका था।

इस तरह हमारी साजिश का आखिरी पड़ाव ख़त्म हुआ। इसके बाद हमको इसकी जरुरत नहीं पड़ी। मेरे अगले पीरियड नहीं आये, और प्रेग्नेंसी टेस्ट भी पॉजिटिव आया।

मुझे आज तक नहीं पता कि उसका असली जैविक पिता कौन हैं संजीव, रौनक या रंजन। क्या फर्क पड़ता हैं, बच्चे की माँ तो मैं ही थी।

पति और मैंने शपथ ले ली थी की अब हम कभी ये साजिश नहीं रचेंगे और एक ही बच्चा काफी हैं।

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
12-27-2021, 01:02 PM,
#26
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
अब हमारा बच्चा साल भर का होने आया था। इस बीच जीवन एकदम सामान्य हो गया था। पर खूबसूरत स्त्री और उसके चाहने वाले को ज्यादा समय दूर नहीं रख सकते। इस कहानी में पढ़िए मेरे जीवन में एक ओर भंवरा आया जिसने मेरा रस चूस लिया।

शादी का सीजन चल रहा था। शादियों के सीजन में ऐसा होता हैं कि घर में कई वेडिंग इनविटेशन कार्ड का ढेर लग जाता हैं। कई बार तो एक ही दिन एक से ज्यादा शादियों में शरीक होना होता हैं। ऐसे ही एक बार शादी के सीजन में हमें एक ही दिन के लिए, कई शादियों में जाने का निमंत्रण था।

मेरे घर में सिर्फ तीन बड़े लोग थे, मैं पति और सास। सब घर वालों ने मिलकर तीन ख़ास न्योतो को चुना और कौन कहा जायेगा निर्णय करने लगे। सासु जी अपनी छोटी बहन के ससुराल में शादी थी तो वो वहां जायेंगे, पति एक करीबी रिश्तेदार की शादी में जायेंगे।

अब बची वो शादी जो पास के शहर में होने वाली थी। ये शादी हमारे एक फॅमिली फ्रेंड के घर में थी, जिनसे हमारी बहुत घनिष्ठता वाला रिश्ता हैं। हमने उनसे वादा किया था कि हमारे घर से कोई न कोई शादी जरूर अटेंड करेगा।

हमारे पड़ोस में रहने वाली ऑन्टी जिन्हे हम प्यार से मौसी कहते हैं, उनकी बड़ी बहु का वो पीहर भी था। क्यों कि सिर्फ मैं बची तो उस शादी में जाने का मेरा नंबर लगा।

सासुजी ने कहा कि बच्चा छोटा हैं तो इसको इतना ट्रेवल मत कराना मैं इससे रख लुंगी अपने साथ लोकल शादी में।

मेरे शादी में आने जाने की व्यवस्था पडोसी मौसी के साथ थी, वो जब अपनी कार में जाएंगे तो मुझे भी ले जायेंगे। पता चला वो लोग शादी के एक रात पहले ही पहुंच जाएंगे ताकि महिला संगीत में भी शिरकत कर सके और अगले दिन दोपहर में होने वाली शादी के लिए भी देर न हो।

शाम के आठ बजे मैं मौसी के घर पहुंची, वो लोग कार में अपने बेग रख रहे थे, मैंने भी अपना बेग रखवा दिया जिसमे अगले दिन शादी में पहनने के कपडे, गहने और मेकअप के सामान थे। हम लोग वहां पहुंचते ही सीधे महिला संगीत अटेंड करने वाले थे तो हम लोग उसी हिसाब से तैयार होकर निकल रहे थे।

हम चार लोग जाने वाले थे, मौसी, मौसाजी, उनका छोटा लड़का प्रशांत और मैं। प्रशांत की बीवी किसी ऑफिस के काम की वजह से नहीं आ पा रही थी। उनकी बड़ी बहु पहले ही मायके में थी, अपने पति के साथ शादी की तैयारियों के लिए।

नौ बजे के करीब हम लोग समारोह स्थल पर पहुंचे जो की एक होटल था। हम लोगो को दो कमरों की चाबी दे दी गयी। एक में प्रशांत और उसके पापा ने अपना सामान रख दिया और दूसरे में मैंने और मौसीजी ने। ताला लगा कर हम हॉल में आ गए, जहा संगीत संध्या अपनी गति पकडे हुई थी।

हॉल में प्रवेश करते ही एक तरफ कुर्सियां लगी थी तो दूसरी तरफ नीचे बैठने की व्यवस्था थी, उन औरतो के लिए जो शादी के लिए कुछ आवश्यक काम कर रही थी। हॉल के पीछे का हिस्सा नाचने के लिए था। तेजी से संगीत बज रहा था और कुछ बच्चे और युवा थिरक रहे थे।

कुछ लोग डांस देखने में मग्न थे तो ओर कुछ बैठे बातें कर रहे थे तो कुछ मेहंदी लगवा रहे थे। मौसी ने मेरा परिचय करवाया। मैं ज्यादा किसी को अच्छे से जानती नहीं थी तो फिर अकेले एक कुर्सी पर जाकर बैठ गयी और डांस देखने लगी।

मुझे अकेला देख, थोड़ी देर बाद प्रशांत आया और मेरा साथ देने बातें करने लगा। मेरी शादी के समय उसने मेरी बहुत टांग खींची थी, पर शादी के बाद पता चला वो बहुत हंसमुख स्वभाव का और सुलझा हुआ युवक हैं। मेरे लिए एक दोस्त की तरह था।

हम लोग कुछ देर तक बातें करते रहे और वो मेरे लिए कुछ पीने और नाश्ते को भी ले आया। मैंने बात बढ़ाने के लिए उससे पूछा वो डांस नहीं कर रहा, तो उसने कहा अभी बच्चे लोग डांस कर रहे हैं फिर यहाँ कपल डांस होने वाला हैं, मेरी बीवी तो आयी नहीं सो मैं भाग नहीं ले पाऊंगा। मैंने अफ़सोस जताया।

अगर आपको यह कहानी पसंद आये तो मेरी सबसे पहली हॉट सेक्स स्टोरी इन हिन्दी, जागरण, मन से तन तक को जरुर पढियेगा, वह भी आपको जरुर पसंद आएगी।

उसने कहा आपने अपनी शादी में तो बहुत अच्छा डांस किया था मुझे याद हैं। आप अच्छी डांसर हैं आपको डांस करना चाहिए। उसने मुझसे पूछा क्या मैं उसका साथ कपल डांस करुँगी। मैं थोड़ा सकपकाई, कभी अपने पति के साथ भी डांस नहीं किया फिर गैर मर्द के साथ कैसे कर सकती हूँ।

मैंने उसको समझाया हम दोनों शाद्दी शुदा हैं, पता नहीं कपल डांस में कोई देखेगा तो क्या कहेगा।

उसने कहा इसकी चिंता मत करो, कपल डांस में वैसे भी उस एरिया में रौशनी एकदम कम कर दी जाएगी, सिर्फ एक दो डिस्को लाइट बीच बीच में घूमेंगी। हम लोग सबसे पीछे की तरफ जाकर डांस करेंगे ताकि आगे बैठे लोग नहीं देख पाए। हमें तो वैसे भी डांस का मजा लेना हैं कौनसा सा लोगो की वाहवाही लूटनी हैं।

मैं उसको मना नहीं कर पाई। थोड़ी ही देर में कपल डांस के लिए घोषणा हुई, काफी दम्पति डांस फ्लोर पर इकठ्ठा हो गए।

प्रशांत मुझे भी भीड़ के बीच से सबसे पीछे ले गया जहाँ सबसे कम रौशनी थी और डिस्को लाइट भी नहीं आयी। अब गाना शुरू हुआ, DJ ने कपल के लिए एक रोमांटिक गाना चला दिया।

मैं सकपका गयी, इस पर कैसे डांस कर सकते हैं किसी और के साथ। पर इस स्तिथि से बचा भी नहीं जा सकता था, तो हम एक हाथ की दुरी पर थोड़ा हिलते डुलते हुए थोड़ी देर तक डांस करते रहे।

दूसरे सारे कपल बाहों में बाहें डाल कर एक दम करीब होकर नाच रहे थे। इस अजीब स्तिथि से बचने के लिए प्रशांत अब मेरे थोड़ा ओर करीब आकर नाचने लगा।

थोड़ी ही देर में उसने अपने दोनों हाथो में मेरे हाथ पकड़ लिए और हाथ ऊपर नीचे करते हुए नचाने लगा। दूर होकर नाचने से ये गाने के हिसाब से ज्यादा बेहतर नाच था।

फिर थोड़ी ही देर में उसने मेरा एक हाथ अपने कंधे पर रख दिया जब कि दूसरा हाथ अब भी उसके हाथ में था। उसने अपना दूसरा हाथ मेरी कमर पर रख कर अपने करीब खिंच लिया और आगे पीछे होकर मुझे अपने साथ नचाने लगा।
Reply
12-27-2021, 01:02 PM,
#27
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
पता ही नहीं चला और गाने के बहाव में धीरे धीरे हिचकिचाहट जाती रही और हम ओर करीब आने लगे। अब हम एक कपल की ही तरह एक दूसरे की बाहों में चिपक कर थोड़ी देर तक ओर नाचते रहे।

मेरे वक्ष थोड़ी थोड़ी देर में उसके सीने से टकरा कर दब भी रहे थे। वो ऐसे रियेक्ट करता जैसे कुछ हुआ ही न हो, जबकि मैं थोड़ा सा शर्मा जाती ओर थोड़ा दूर हट जाती, पर थोड़ी ही देर में वो फिर मुझे अपने करीब खींचता और फिर वही दोहराता।

बीच बीच में वो स्थिति बदलते हुए मुझे पूरा घुमा देता और पीछे से मुझे पेट से झकड़ कर अपने से चिपका लेता, जिससे मेरे नितंब उसके नाजुक अंगो को छूते और डांस में हिलने के दौरान उससे रगड़ते।

मेरे पेट में तितलियाँ उड़ रही थी, मेरी इच्छाएं बढ़ रही थी। तभी गानो का एक दौर ख़त्म हुआ और हम एक दूसरे से ना चाहते हुए भी अलग हुए। वह एक डांस ब्रेक था। मैं वापिस जाकर कुर्सी पर बैठ गयी।

प्रशांत अपनी मम्मी से मिल कर आया और मुझे चाबी देते हुए कहा, मम्मी ने दी हैं तुम्हारे रूम की चाबी, अगर तुम्हे सोने जाना हैं तो जा सकती हो, मम्मी को समय लगेगा।

मैं तो उसके साथ अभी ओर समय गुजारना चाहती थी सो कुछ कहते नहीं बना।

प्रशांत ने कहा एक राउंड ओर डांस का कर लेते हैं फिर मुझे भी वैसे सोने जाना हैं। मैंने ख़ुशी से हां कर दी। ब्रेक ख़त्म हुआ और सारे कपल फिर बीच में आ गए। प्रशांत मुझे भीड़ के बीच एक बार फिर सबसे पीछे कोने वाली जगह में ले आया।

जैसे ही गाना बजना शुरू हुआ हम एक दूसरे से चिपक गए, और नाचने लगे। उसका ध्यान नाच में कम और छूने में ज्यादा था। हम दोनों काफी करीब आ गए थे, इतना कि मेरी वासनाये भड़कने लगी थी। मन में गंदे विचार आने लगे।

वह बीच बीच में कमर पर हाथ रखने के बहाने कुछ ज्यादा ही ऊपर से पकड़ रहा था जिससे उसके हाथ मेरे वक्षो को छु रहे थे। पर मुझे उसकी ये शरारत भी भा रही थी।

कभी कभार वो अपने होंठ से मेरे कंधे छु रहा था। इसी तरह एक दूसरे में खोये हुए हम नाचते रहे। इससे पहले कि मेरा अपने आप से नियंत्रण हटता गाना ख़त्म हो गया और एक बार फिर हम अलग हुए।

कपल डांस का राउंड ख़त्म हो चूका था और नाचने की बारी दूसरे उम्र के लोगो के लिए थी। अब हम दोनों रूम की तरफ सोने के लिए जाने लगे। उसने मेरे रूम का ताला खोल दिया और कहा कुछ भी जरुरत हो तो वो पास के रूम में ही हैं तो उसे बता दू।

उसने बताया दोनों रूम को जोड़ने के लिए बीच में एक दरवाजा भी हैं। वह शुभरात्रि बोल कर अपने रूम की तरफ गया। मैंने सोचा काश कुछ बहाना मार कर उसे अपने ही रूम में रोक लेती मगर कैसे कहती।

मैं कमरे में आयी और दरवाज़ा बंद कर अपना बेग खोल कर रात को पहनने के लिए नाईट गाउन निकाल लिया। अब मैं आईने के सामने खड़ी हो गयी और अपना रूप निहारने लगी। अपनी चुडिया और दूसरे गहने निकाल दिए।

बहुत तनहा तनहा सा लग रहा था। खैर मैंने अपनी साड़ी निकाल कर एक तरफ रख दी। मेरी चोली पीछे से डोरियों से बंधी थी सो पहले अपने खुले बालो को ऊपर कर झुड़ा बाँध दिया। अब मैंने अपनी चोली की डोरियों की गांठे खोल कर उतार दी।

चोली क्यों कि पीछे से खुली थी तो ब्रा नहीं पहना था। अब मैं अपनी चोली को समेटने लगी। तभी पीछे एक आहट हुई, मैं घबरा कर पीछे मुड़ी तो देखा दोनों रूम के बीच का दरवाज़ा खुला था वहाँ प्रशांत खड़ा हैं।

उसका मुँह खुला का खुला और आँखें फटी की फटी रह गयी थी। कुछ क्षणों में मैंने महसूस किया कि मैं टॉपलेस हूँ और वो मेरे सीने को ही घूर रहा हैं। मैंने तुरंत अपने हाथ में पकड़ी चोली से अपना सीना ढका और पीछे मुड़ गयी।

मैंने आईने में देखा वो अब भी मुझे घूर रहा था। अगर बालो का झुड़ा नहीं बनाया होता तो शायद बाल मेरी नंगी पीठ और कमर को ढक सकते थे, पर अब वो मेरी नंगी पीठ और पतली कमर को ही घूर रहा था।

मैं शरम के मारे पानी पानी हो गयी और नज़रे नीचे जमीन पर गड़ा दी। अपने पैरो की उंगलियों से नीचे के कार्पेट को कुरेदने लगी और उसका ध्यान भंग करते हुए पूछा आप यहाँ?

उसकी जैसे नींद सी टूटी और सकपकाते उसने कहा, मुझे पता नहीं था आप चेंज कर रही होंगी वरना ऐसे नहीं आता। मैंने नज़रे ऊपर करते हुए आईने में देखा तो वो आईने के माध्यम से मुझसे नज़रे मिलाते हुए बोला आई ऍम सॉरी।

वो बेमन से पीछे मुड़ कर पीछे जाने ही वाला था। मुझे लगा मेरी इस हालत से शायद वो घबरा गया हैं। उसको थोड़ा सामान्य करने के लिए उसको पूछा कुछ काम था तुमको मुझसे?

उसने कहाँ नहीं मैं बस चेक कर रहा था अगर जरूररत पड़े तो ये बीच का दरवाज़ा काम करता भी हैं या नही।

मैंने कहा अच्छा ठीक हैं।

उसने कहा गुड नाईट, मैंने भी गुड नाईट में जवाब दिया।

उसने आगे कुछ हकलाते हुए पूछा आपको बुरा ना लगे तो एक बात कहु?

अब हम आईंने के माध्यम से ही नज़रे मिला कर बात कर रहे थे।

मैंने कहा बेझिझक बोलो।

उसने कहा तुमने अपना फिगर बहुत संभाल के रखा हैं, शादी के चार पांच साल बाद भी ऐसे संभाल कर रखना आसान नहीं हैं। मैंने शर्म के मारे एक बार फिर नज़रे नीचे झुका ली और उसको थैंक यू बोला।

मैं इंतज़ार करने लगी वो दरवाज़ा बंद कर वापिस अपने रूम में जाएगा। पर अगले कुछ क्षणों के बाद उसकी उंगलिया मेरी पीठ और कमर पर मचल रही थी। मेरे पुरे शरीर में जैसे विद्युत प्रवाह सा हो गया।

मैंने अपने हाथों में पकड़ी चोली से सीना ओर भी कस के दबा लिया। मेरे मुँह से ना तो एक शब्द निकला ना ही मैं जरा भी अपनी जगह से हिली।

थोड़ी देर ऐसे ही उंगलिया फिराने के बाद उसने उनको हटा लिया। मुझे ऐसा लगा जैसे शरीर में विद्युत प्रवाह रुक गया।

प्रशांत ने अब अपने दोनों हाथों से मेरी कलाइयां पकड़ ली और मेरे हाथों को शरीर से दूर हटाने लगा। मैंने भी अपना पूरा जोर लगा के अपने हाथों से चोली को सीने से चिपकाये रखा। पर उसके बल के आगे मेरा जोर काम न आया।

उसने ज्यादा दम लगा के मेरे दोनों हाथों को एक झटके में शरीर से दूर करके चौड़ा कर दिया। मेरे हाथ में पकड़ी चोली नीचे गिर गयी और मेरे सीने की इज़्ज़त बचाने में नाकाम रही।

मैंने अपना सर ऊपर कर आईने में देखा। थोड़ी देर पहले उसके उंगलियों के जादुई स्पर्श से मेरे दोनों वक्ष और भी फुल गए थे और कड़क हो गए थे। निप्पल भी तन गए थे। अपने आप को आईने में देख कर मेरा पूरा चेहरा शर्म से लाल हो गया था। वो आईने में मेरे सीने की ही खूबसूरती को देख कर लार टपका रहा था।

मैंने अपने हाथ छुड़ाने का भरसक प्रयास किए ताकि अपनी इज्जत को फिर से ढक सकू पर उसने मुझे इजाजत नहीं दी।

थोड़ी देर में मैंने भी थक कर प्रयास बंद कर दिया। अब उसने मेरी कलाइयां छोड़ दी, पर अब भी उसकी मजबूत पकड़ मैं अपनी कलाइयों पर महसूस कर पा रही थी। जिससे उसके हाथ छोड़ देने के बाद भी मैं अपने हाथ उसी अवस्था में फैलाये खड़ी रही।

उसने अपने दोनों हाथों को मेरे बड़े वक्षो पर रख दिया। वो इतने बड़े थे कि वो उनको पूरा पकड़ भी नहीं पा रहा था, इसलिए हाथ घुमा घुमा कर वक्षों को दबा रहा था। मैंने अपनी चेतना लौटाते हुए तुरंत उसके दोनों हाथो को पकड़ा और अपने सीने से हटाने का प्रयास करने लगी।

पर उसके हाथ तो जैसे खजाना लग गया था जिसे वो छोड़ने को ही तैयार नहीं था। मेरे थोड़ी देर संघर्ष करने के बाद उसने स्वतः ही मेरे वक्षो को छोड़ दिया। मैंने तुरंत अपने दोनों हाथों से अपने वक्षो को ढकने का प्रयास किए।

उसके बड़े हाथ जो नहीं कर पाए भला मेरे छोटे हाथ क्या कर पाते। जितना हो सकता था मैंने कवर करने का प्रयास किया। मैं तुरंत वहा से हटना चाहती थी पर उसने अपने एक हाथ को मेरे पेट पर लपेट कर मुझे झकड़ लिया। मैं हिल नहीं पायी और मेरे नितम्ब उसके आगे के अंग को छू गए।
अब उसका दूसरा फ्री हाथ मेरे लहंगे की तरफ बढ़ा और जो नाडा लहंगे के अंदर फंसा था, उसको लहंगे से बाहर निकालने लगा। मुझे खतरे का आभास हुआ। हाथों से ऊपर के अंगो की हिफाजत करती या नीचे की।
Reply
12-27-2021, 01:02 PM,
#28
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
मैंने अब अपने एक हाथ से दोनों वक्षो को कवर किया और दूसरे हाथ को फ्री करते हुए उसके उस हाथ की तरफ बढ़ाया जो मेरा लहंगा खोलने वाला था। नाडा लहंगे के बाहर था बस खींचने की देर थी पर मैंने उसके हाथ को झटका दिया और अपना नाडा कस कर पकड़ लिया।

अपने सीने को एक्सपोज़ होने से तो नहीं बचा पायी थी पर अब नीचे के अंग को तो बचाना ही था। मेरे जिस हाथ में नाडा था उसने वो कलाई पकड़ी और तेजी से हाथ ऊपर किया। मेरे हाथ में जो कस के नाडा पकड़ा था मेरे हाथ के ऊपर जाते ही झटके के कारण खिंच गया और उसकी गांठ खुल गयी। मेरा हाथ इतना ऊपर गया कि ऊपर जाते ही नाडा भी छूट गया और मेरा लहंगा धड़ाम से नीचे जमीन पे जा गिरा।

उसका हाथ अब मेरी पैंटी की तरफ बढ़ा। मैं अपना हाथ तुरंत नीचे ले जाकर अपनी पैंटी को टाइट पकड़ कर ऊपर की खिंचने लगी। वो उसे नीचे खिंच रहा था और मैं ऊपर की तरफ।

थोड़ी देर के संघर्ष के बाद उसने पैंटी छोड़ कर अपने दोनों हाथ कमर से शुरू करते हुए धीरे धीर ऊपर उठाते हुए वक्षो की तरफ बढ़ने लगा।

मेरे दोनों हाथ एक-एक किला संभाले हुए थे। मगर उसके दोनों हाथ अब एक तरफ आक्रमण को बढ़ रहे थे। उसने अपने दोनों हाथों से फिर मेरे वक्षो को ढके हाथ को धकेलते हुए ऊपर के किले पर कब्ज़ा कर लिया। पहले की तरह एक बार फिर वो उनको दबा कर मसलने लगा।

मैंने भी अब अपनी पैंटी छोड़ी और दोनों हाथों से अपने वक्षो को छुड़ाने का प्रयास करने लगी। उसको मौका हाथ लगा और तेजी से वक्षों को छोड़ते हुए अपने दोनों हाथों से मेरी पैंटी पकड़ कर एक झटके में नीचे उतार दी।

मुझे अपनी हार का अहसास हुआ। उसने अपना एक हाथ दोनों टांगो के बीच ले जाते हुए मेरी चूत पर रख दिया और हाथ फिराने लगा।

मुझ एक आनंद की अनुभूति हुई और अपने शरीर को कड़ा कर लिया। उसने अपनी ऊँगली मेरी चूत में डाल कर चलानी शुरू कर दी। मेरी तो सिसकीया निकलने लगी। मेरा सारा विरोध क्षीण पड़ने लगा।

मैंने आत्मसमर्पण करते हुए अपने वक्षो को छोड़ दिया और एक हाथ उसकी गर्दन के पीछे ले जाकर पकड़ लिया। उसने अब अपने दूसरे हाथ से मेरे वक्षो को मलना शुरू कर दिया। उसका दोनों किलो पर कब्ज़ा हो चूका था और रानी को जीत चूका था।

थोड़ी देर ऐसे ही मजा दिलाने से मेरे अंदर गीला होने लगा और मूड बनने लगा। वह अब मुझे धकेलते हुए बिस्तर के पास ले आया और लेटा दिया। उसने अपना शर्ट और पैंट निकाल दिया। जैसे ही उसने अपना अंडरवियर निकाला उसका नाग झूमते हुए बाहर आया।

अब वो बिस्तर पर आया और अपनी दोनों टाँगे मेरे चेहरे के दोनों तरफ करते हुए अपना लंड मेरे मुँह के पास ले आया और झुककर अपना मुँह मेरी चूत के पास ले आया। अब हम 69 पोजीशन में थे।

उसने मेरी चूत चाटनी शुरू कर दी। अपनी जीभ मेरे चूत के दोनों होठों के बीच ले जाकर रगड़ने लगा। उसका लंड मेरे मुँह और होठों को छू रहा था पर मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी उसको चूसने की।

वो बड़े प्यार से मेरी चूत को अपनी जबान से रगड़ रगड़ कर साफ़ कर रहा था। इतना आनंद तो मुझे पहले कभी नहीं आया था।

मुझसे भी अब रहा नहीं गया और उसके लंड को अपने होठों से पकड़ लिया। धीरे धीरे करके उसको पूरा अपने मुँह में उतार लिया।

अंदर जाते ही उसको मजा आने लगा और वो मुँह में ही झटके मारने लगा, जिससे वो मेरे मुँह के काफी अंदर तक उतर गया। मैं भी अपनी जबान से उसके लंड की चमड़ी को रगड़ने लगी।

उसको ओर भी मजा आने लगा और उसने अपनी जबान मेरी चूत के छेद में डाल दी और अंदर बाहर करने लगा।

मेरी तो जान निकलने लगी। अब हम दोनों ही अगले कुछ मिनटों तक एक दूसरे को ऐसे ही असीम आनंद दिलाते रहे, जब तक कि हम दोनों को पानी निकलने लगा। हम दोनों ने ही एक दूसरे के पानी का स्वाद चखा और आनंद के मारे मैंने थोड़ा पी भी लिया था।

मेरे गले में उसका पानी उतरते ही मैंने उसका लंड अपने मुँह से बाहर निकाल दिया। उसने भी अब मुझे नीचे से चाटना बंद किया और सीधा होकर मेरी दोनों टांगो के बीच बैठ गया। अब वो आगे झुकते हुए मुझ पर लेट गया।

उसके सीने के नीचे मेरे वक्ष थोड़े दब से गए और उसका लंड मेरी चूत को छूने लगा। इसके पहले कि वो मेरे अंदर प्रवेश करता मुझे अपने पति की कही बात याद आयी।

मेरे माँ बनने के बाद हमने वादा किया था कि एक बच्चा ही काफी हैं। अगर मैं फिर गर्भवती हो गयी तो पति पकड़ लेंगे। वो अपना लंड पकड़ कर मेरी चूत के होठों के बीच रगड़ने लगा।

मैंने उसको पूछा क्या तुम्हारे पास प्रोटेक्शन हैं?

उसने कहा मुझे नहीं पता था कि ऐसा मौका भी मिलेगा वरना ले आता।

अगर अपने मेरी पिछली हिन्दी चुदाई की कहानी समझोता, साजिश और सेक्स को नहीं पढ़ा है, तो पढ़िए और उसका लुफ्त जरुर उठाइए।

मैंने उसको धक्का देते हुए अपने ऊपर से हटाया। मैंने उसको बताया कि मैं ये रिस्क नहीं ले सकती, कुछ हो गया तो मेरे पति को सब पता चल जायेगा।

उसने कहा एक बार करने से जरुरी नहीं कुछ हो ही जाये, और अगर हो भी गया तो अपने पति पर डाल देना इल्जाम। अब मैं उसको कैसे बताती अपनी पति की कमजोरी के बारे में ऊपर से वादा कर रखा था किसी को नहीं बताना हैं।

मैंने बहाना मार दिया पति हमेशा प्रोटेक्शन यूज़ करते हैं तो हम पकडे जायेंगे। वो निराश हो गया, इतना अच्छा हाथ आया मौका फिसलता हुआ नजर आया।

उसने भागते भूत की लंगोटी पकड़ना ही उचित समझा और बोला हम लोग ओरल सेक्स कर लेते हैं। मैं तो वैसे भी भरी बैठी थी तो हां कर दी।

लेडीज फर्स्ट के तहत अब उसने पहले मुझे मजा दिलाने की शुरुआत की। मैंने दोनों पैर चौड़े किये और उसने आगे झुककर अपने हाथ की बीच वाली लम्बी ऊँगली मेरी चूत पर फेरते हुए अंदर छेद में घुसा दी।

जितना अंदर वो ऊँगली डाल सकता था उतना ले जाकर उसको अंदर हिलाने लगा। मेरी सिसकिया निकलनी शुरू हो गयी। उसने अपने होठ मेरे पेट पर लगा कर चूमना शुरू कर दिया।

थोड़ी देर ऐसे ही मजे दिलाने के बाद उसने एक की बजाय दो उंगलिया अंदर घुसा दी। अब वो ओर भी जोर लगा कर उंगलिया ओर ज्यादा गहरी डालने की कोशिश करने लगा। मुझे डर लगा इतने जोर से कही वो अपना पूरा हाथ ही अंदर न घुसा दे।

थोड़ी देर में ही मेरे अंदर का पानी छूटने लगा और उसकी ऊँगली के रगड़ने से पानी की आवाज़े आने लगी। अपने चरम के नजदीक पहुंचते हुए मैं तेज आवाज़ में आ.. ऊ…. करते झड़ गयी। उसने अब अपनी उंगलिया बाहर निकली और सीधा लेट गया अपनी बारी के लिए।

मैं अब उठ कर बैठ गयी। एक हाथ से उसके लंड की चमड़ी नीचे करते हुए नीचे का आधा भाग पकड़ लिया और दूसरे हाथ से नीचे से ऊपर की तरफ उसकी लंड की टोपी पर रगड़ने लगी। ये मसाज की तकनीक मैंने सीखी थी और बड़ी प्रभावी थी।

अब सिसकिया निकालने की बारी उसकी थी। कुछ मिनटों बाद ही उसने मुझसे कहा कि मुझे अंदर डालने दो मैं कुछ नहीं होने दूंगा, पानी निकलने से पहले बाहर निकाल दूंगा।

मैंने मना किया, इसमें रिस्क हैं, अगर टाइम पर नहीं निकाल पाए तो मैं फंस जाउंगी।

उसने यकीन दिलाने की कोशिश की के उसे इस चीज़ का काफी अनुभव हैं और वो कुछ नहीं होने देगा। उसका आत्मविश्वास देख कर मैंने उसको एक मौका देने की सोची और हां बोल दिया। मैंने उसका लंड रगड़ना छोड़ा।

वो खुश होकर बैठ गया और मुझे एक बार फिर सीधी लेटा दिया। मेरी दोनों टाँगे चौड़ी करते हुए बीच में बैठ गया और आगे झुककर मुझ पर लेट गया। अब उसने अपना लंड पकड़ कर मेरे छेद में घुसा दिया।

इतनी देर उसकी ऊँगली से मजा लेने के बाद उसके मोटे लंड को अंदर लेने से मजा दोगुना हो गया था। वो जो इतनी देर से भरा बैठा था तो बिना समय गवाए तेजी से अंदर बाहर झटके मारते हुए आहें निकालने लगा।
Reply
12-27-2021, 01:03 PM,
#29
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
थोड़ी देर पहले ही झड़ने के बाद मेरा एक बार फिर मूड बनने लगा। कुछ मिनटों तक वो मुझे ऐसे ही जोर जोर से चोदता रहा। मेरे अंदर फिर से पानी बनने लगा और फचाक फचाक की आवाज़े आने लगी। मजा तो आ रहा था पर थोड़ा डर भी लग रहा था, कही कुछ हो तो नहीं जायेगा।

उसके झटको की गति अब बढ़ने लगी थी और मैं एक बार फिर झड़ने वाली थी।

तभी उसने कहा कि उसका पानी निकलने वाला हैं क्या करू? मैं झड़ने के करीब थी तो मेरे दिमाग के बदले दिल ने जवाब दिया अभी बाहर मत निकलना।

उसने झटके मारना जारी रखा और तेज चीखों के साथ मैं एक बार फिर से झड़ गयी। मैंने तुरंत उसको धक्का देते हुए एक बार फिर से अपने ऊपर से हटा दिया। वो मेरा मुँह ताकता रह गया, उसका भी तो होने ही वाला था।

उसने सवाल किया मैं क्या करू अब, पूरा नहीं हुआ?

मैंने उसको सुझाया मैं उसका लंड रगड़ कर उसका पानी निकाल देती हूँ। उसने कहा इसमें अंदर डालने जितना मजा तो नहीं आएगा। उसने सुझाया कि पीछे के छेद में कर सकते हैं, वहां करना सुरक्षित हैं, प्रेग्नेंट होने का डर नहीं रहेगा।

मैंने सोचा दर्द तो होगा, पर उसने मुझको दो बार झड़ने में मदद की तो उसकी एक बार मदद कर देती हूँ। मैंने उसको हां बोल दिया। अब मैं घुटनो के बल बैठ कर आगे झुक कर आधा लेट गयी।

वह मेरे पीछे आया और मेरे नितम्बो को चौड़ा करते हुए अपना लंड मेरे पीछे के छेद में डालने लगा। जैसे ही उसका लंड मेरे छेद में घुसा दर्द के मारे मेरी एक चीख निकली और फिर सब सामान्य हो गया।

वो अब अंदर बाहर झटके मारते हुए मुझे पीछे से चोदने लगा। कुछ मिनटों में ही उसने जोर जोर के झटको और चीखो के साथ अपना सारा पानी मेरे पीछे के छेद में खाली कर दिया।

अपनी बन्दुक अनलोड करने के बाद उसने बाहर निकाली। थोड़ा पानी बाहर निकल कर रिसने लगा। वो तेजी से अंदर बाथरूम में गया और थोड़े टॉयलेट पेपर ले आया। हम दोनों ने अब अपनी गन्दगी साफ़ की।

हम दोनों अब आस पास लेटे थे। प्रशांत ने पूछा क्या मुझे कल भी करने दोगी? मैंने कहा कल प्रोटेक्शन ले आना, अगर मौका मिलेगा तो फिर कर लेंगे। वो खुश हो गया।

तभी दरवाज़े पर दस्तक हुई। शायद मौसी आ गए थे सोने के लिए। हम दोनों डरके बिस्तर से कूद कर खड़े हो गए। प्रशांत ने अपने कपडे पहनने शुरू किये और मैंने चारो तरफ बिखरे अपने कपडे इकट्ठे किये और अपने बेग में ठूस दिए।

मौसी बाहर से आवाज़ लगा कर दस्तक दे रही थी। मैंने पहले से बाहर निकाल कर रखा नाईट गाउन पहन लिया।

प्रशांत ने कपडे पहन लिए थे और वो तेजी से बीच के दरवाज़े से अपने रूम में गया और बीच का दरवाज़ा बंद कर दिया। मैंने तुरंत नीचे पड़े गंदे टॉयलेट पेपर इकट्ठा कर डस्टबिन में डाले।

मैंने मुख्य दरवाज़ा खोल कर मौसी को अंदर आने दिया।

मौसी ने पूछा नींद आ गया थी क्या?

मैंने हां में सर हिलाया, उनको कैसे बताती कि मैंने उनको दादी बनाने का लगभग पूरा इंतज़ाम कर ही लिया था। मैं वापस बिस्तर पर आकर लेट गयी। फिर मैं संतुष्ट होकर ये सोचते सोचते सो गयी कि कल पता नहीं क्या होगा?

रात को देर से सोने के कारण मैं सुबह देर तक सोती रही। नौ बजे आँख खुली तो बाथरूम से पानी की आवाज़ आ रही थी। मैंने सोचा मौसी अंदर नहा रहे होंगे। मैंने उठकर रात को जो कपडे जल्दबाजी में बेग में ठुसे थे उनको सही से समेटकर रखने लगी।

थोड़ी देर में मौसी बाथरूम से बाहर आये और मुझसे कहा तुम भी जल्दी से नहा धो लो, थोड़ी देर में विवाह कार्यक्रम शुरू हो जायेंगे, मैं अभी तैयार होकर बाहर उनकी थोड़ी मदद के लिए चली जाउंगी, तुम तैयार हो जाना। मैंने हां में सर हिलाया और बाथरूम का रुख किया।

नहाते वक़्त भी रह रह कर पिछली रात के ख्याल ही आ रहे थे। ऐसा कुछ सोचा नहीं था, पता नहीं वो सब कैसे हो गया। आधे घंटे बाद मैं बाहर आयी और शादी के लिए कपडे और गहने पहन कर तैयार हो गयी। मौसी मेरे लिए एक नाश्ते की प्लेट भी रख कर फिर चले गए थे। मैंने नाश्ता कर अपना श्रृंगार करना शुरू किया।

मौसी कमरे में आये और कहा चले हॉल में कार्यक्रम शुरू हो गए हैं। मौसी के साथ समारोह स्थल पर पहुंची। सब लोग शादी की तैयारियों में व्यस्त थे।

प्रशांत दूर से मुझे ही घूर रहा था और मैं शर्मा रही थी। बीच बीच में नजरे चुरा कर उसको देख लेती। इसी तरह लुका छिपी होती रही और कार्यक्रम आगे बढ़ता रहा।

मैं मौसी और दूसरी औरतो के साथ बैठी थी। तभी प्रशांत ने मुझे इशारे से पानी पीने के बहाने दूसरी ओर अकेले में बुलाया। मैं मौसी से कह कर हॉल के बाहर एक कोने में रखे पानी के बूथ तक पहुंची।
Reply

12-27-2021, 01:03 PM,
#30
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
प्रशांत वहां पहले से खड़ा था और मेरे आते ही मुझे एक दीवार की ओट में लिया और चूमने लगा। मैंने उसे रोका कोई देख लेगा।

उसने कहा रूम में चलते हैं, मैंने कहा अभी नहीं जा सकते और पकडे जाने के डर से अपने आप को छुड़ा कर फिर से हॉल में अपनी जगह आकर बैठ गयी।

धीरे धीरे विवाह के पहले के सारे कार्यक्रम निपट गए। अभी विवाह के मुहर्त में थोड़ा समय बचा था तो सबके अनुरोध पर दूल्हा दुल्हन को नाचने के लिए बोला गया।

उनका साथ देने के लिए सभी कपल्स को डांस के लिए बुलाया गया। मेरी बांछे खिल गयी, हम दोनों ने आँखों ही आँखों में इशारा किया और एक बार फिर भीड़ के बीच डांस के लिए पहुंच गए।

ए सी हॉल चारो तरफ से बंद था तो बिना लाइट के दोपहर में भी अँधेरा रहता। हम दोनों पिछली रात की तरह एक बार फिर सबसे पीछे चले गए जहा किसी की ज्यादा ध्यान ना जाये। हॉल में डांस एरिया में हलकी रौशनी कर दी गयी और सिर्फ दूल्हा दुल्हन पर ही तेज रोशनी डाली गयी।

गाना शुरू होने की ही देर थी और मैं उसकी बाहों में झूलने लगी। सब लोगो का ध्यान वैसे भी दूल्हा दुल्हन पर था। हमने इतना चिपक के डांस किया कि एक बार फिर हम अंतरंग होने लगे। हम भूल ही गए कि शादी किसी और की हैं।

हम इसी तरह एक दूसरे में खोते हुए डांस करते रहे। मैं बहक चुकी थी और अब इंतज़ार नहीं हो पा रहा था। मैंने महसूस किया की मेरी पैंटी भी थोड़ी गीली हो चुकी थी।

थोड़ी देर बाद गाने ख़त्म हुए और दूल्हा दुल्हन सहित सारे लोग फिर अपनी जगह आ गए। हम भी बुझे मन से अपनी अपनी जगह की ओर आने लगे। मैंने प्रशांत को चुपके से इशारा किया और बाथरूम की ओर आने को कहा।

मैं एक बार फिर मौसी को बोलकर बाहर आयी और सबसे कोने वाले बाथरूम की ओर गयी। प्रशांत पीछे से आया और दोनों को अंदर बंद कर दिया। एक बार फिर उसने मुझे चूमना शुरू किया और मेरे अंग दबाने लगा। मैं अनियंत्रित होने लगी।

प्रशांत ने कहा रूम में चलते हैं अब इंतज़ार नहीं होता। इस समय इतनी देर के लिए गायब होना ठीक नहीं था। उसको थोड़ा शांत करने के लिए मैंने नीचे बैठ कर उसके नीचे के कपड़े उतार दिए। उसका नाग फिर फुफकारते हुए बाहर आकर झूमने लगा।

मैं रोमांचित हो गयी और अपने आप को उसके अंग को सहलाने से नहीं रोक पायी। उसका अंग पहले ही तैयार हो चूका था तो मैं मुँह में लेकर चूसने लगी। तभी ध्यान आया ज्यादा समय नहीं हैं। मैं चूसना छोड़ कर उठ खड़ी हुई।

एक दिन ट्रेन में सफ़र करते हुए, कैसे पुलिस ने सनी में माँ और बहन की ट्रेन में चुदाई करी, यह सब जानिए सनी की जुबानी।

मगर प्रशांत से तो सब्र ही नहीं हो रहा था। उसने मुझे पकड़ कर तुरंत उल्टा किया और वाश बेसिन पर झुका दिया। उसने मेरा लहंगा ऊपर किया और मेरी पैंटी नीचे उतार दी। उसकी ये जिद कही ना कही मुझे भी अच्छी लग रही थी।

उसने आगे बढ़ कर अपना लंड पीछे से मेरी चूत में उतार दिया। लंड अंदर जाते ही हम दोनों को बड़ी राहत मिली। उसने अब आगे पीछे झटके मारते हुए मुझे चोदना शुरू कर दिया। हम दोनों ही ठंडी आहें भर रहे थे।

फिर याद आया वो बिना प्रोटेक्शन के कर रहा हैं। मैंने उसको रोकने की कोशिश की और प्रोटेक्शन की याद दिलाई। उसने झटके मारना बंद किया और बोला आज सुबह ही खरीद कर लाया हु।

तभी बाहर अनोउसमेंट हुआ कि मुहर्त हो गया हैं तो सब लोग मंडप में जाये और गार्डन में लंच खुल गया हैं तो वहा भोजन के लिए भी जा सकते हैं।

मैंने अपने आप को उससे अलग किया और कहा अभी लोग दो हिस्सों में बंट जायेंगे। मैंने बताया तुम्हारी मम्मी मंडप में जायेगी और मैं गार्डन में जाने का बोल कर मौका देख कर रूम में आ जाउंगी। हम रूम में जाकर अच्छे से करेंगे।

उसको भी ये बात समझ में आ गयी और मान गया। हमने अपने कपडे ठीक किये और एक एक करके चुपके से बाहर निकल अपनी जगह आ गए।

मैं मौसी के पास गयी, उन्होंने कहा वो मंडप में जा रहे हैं क्या मैं आउंगी। मैंने बहाना बनाया मैं थोड़ी देर में मंडप में आउंगी। अभी गार्डन में फूलों की सजावट देखूंगी और फिर थोड़ा खाना भी खा लुंगी।

मैं गार्डन में जाने का कह कर छुपते हुए होटल रूम की तरफ भागी। प्रशांत भी पहुंच चूका था। दरवाजा बंद कर हमने एक दूजे को सीने से लगा लिया, इतना शायद हम दोनों कभी नहीं तड़पे थे।

मैंने कल रात का बदला लेते हुए उसको पूर्ण निवस्त्र कर दिया। मैं उसके पुरे शरीर को चूमने लगी। उसने भी मेरी साड़ी का पल्लू गिरा दिया और चोली खोल दीं, उसने स्तन पान करना शुरू कर दिया। अब वो साड़ी को लहंगे से निकाल पूरा उतारने लगा तो मैंने ये कह कर मना कर दिया कि पहनने में बहुत समय लग जाएगा।

हमारे पास ज्यादा समय नहीं था, मैंने उसे बिस्तर पर लेटाया और अपनी पैंटी उतार कर अपना लहंगा नीचे से ऊपर उठा कर दोनों टाँगे फैला कर उस पर बैठ गयी। हम दोनों के नाजुक अंग छू रहे थे और हम मिलन को लालायित होने लगे। मैंने उससे प्रोटेक्शन के बारे में पूछा, उसने पहले ही निकाल कर रख लिया था।

मैं खुश हो गयी, मैं उस पर से हट गयी, उसने प्रोटेक्शन धारण कर लिया। मैं एक बार फिर उस पर सवार हो गयी और उसका लंड पकड़ कर अपनी चूत के अंदर डाल दिया।

मैं ऊपर नीचे होने लगी, जिससे मेरी चूचियाँ ऊपर नीचे हो उछल कूद करने लगी। उसने मेरी चूचियों को दबोच लिया और मलने लगा।
हम दोनों सिसकिया निकालते हुए आनंद लेने लगे।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 12 84,457 01-14-2022, 10:25 AM
Last Post: deeppreeti
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 246 1,474,373 01-12-2022, 09:15 PM
Last Post: [email protected]
Star Muslim Sex Kahani खाला जमीला desiaks 100 134,504 01-09-2022, 11:40 AM
Last Post: Sidd
Thumbs Up Hindi Antarvasna - एक कायर भाई desiaks 132 134,176 01-08-2022, 06:14 PM
Last Post: desiaks
Star Porn Sex Kahani पापी परिवार sexstories 353 1,697,637 12-23-2021, 04:27 AM
Last Post: vbhurke
Star Free Sex Kahani लंसंस्कारी परिवार की बेशर्म रंडियां desiaks 54 569,904 12-23-2021, 04:13 AM
Last Post: vbhurke
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 126 1,126,497 12-20-2021, 07:55 PM
Last Post: nottoofair
Thumbs Up XXX Kahani नागिन के कारनामें (इच्छाधारी नागिन ) desiaks 63 79,625 12-08-2021, 02:47 PM
Last Post: desiaks
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 156 453,170 12-06-2021, 02:26 AM
Last Post: Babasexyhai
  Antarvasnasex मेरे पति और उनका परिवार sexstories 5 119,154 11-25-2021, 08:48 PM
Last Post: Burchatu



Users browsing this thread: 7 Guest(s)