Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
12-27-2021, 01:03 PM,
#31
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
थोड़ी देर में हम पूरा प्रेम रस में डूब कर अपनी तड़प मिटाने लगे। पुरुष पर चढ़ कर संगम का आनंद लेने का मजा ही कुछ और था। ऊपर से चोरी चोरी प्यार करने का उत्साह और मैं पूर्ण आनंद में डूबने लगी।

उसने अब मेरी साड़ी निकाल ली और साड़ी को लहंगे से अलग कर दिया, मैं उसको रोक नहीं पायी, मैं भी सारे बंधन से मुक्त हो पूरा खुल कर प्यार करना चाहती थी।

अब उसने लहंगे का नाड़ा खोल कर मेरे सर के ऊपर से निकाल दिया। अब हम दोनों पूर्ण नग्न होकर आनंद लेने लगे। मेरे शरीर पर सिर्फ गहने थे।

शायद ये हमारा आखरी मिलन हो, यही सोच कर हम अपनी पूरी ताकत जुटा कर इस अवसर का ओर भी मजा लेने लगे। मैं उस पर पूरा लेट कर चोदने लगी पर जल्द ही थकने लगी। वह नीचे लेटे ही झटके मारने लगा। थोड़ी देर तक हम इसी तरह एक दूसरे से मिलन का आनंद लेते रहे।

मैं प्रशांत का नाम ले लेकर उसको और भी जोर से करने को उकसा रही थी। मेरी पुकार सुन कर वो ओर जोश में आ गया। उसने भी शायद अब तक ऐसा जंगली प्यार नहीं किया था। हम दोनों अपने जीवन का सबसे हसीन मिलन कर रहे थे। हम अपनी चेतना खो चुके थे।

उसने अब मुझे नीचे लेटाया और मेरे पाँव घुटनो से मोड़ कर ऊपर कर के चौड़ाई में थोड़े फैला दिए। अब वो फिर मेरी खुली चूत को भेदने के लिए तैयार था। मुझे ख़ुशी थी की प्रोटेक्शन की वजह से आज वो आगे के छेद में पूरा कर पायेगा और मुझे भी मजा दिलाएगा।

ऊपर आने के बाद उसके झटके ओर भी गहरे हो गए, शायद कल की तरह उसको भी चिंता नहीं थी आज किसी रिस्क की। जैसे जैसे मजा बढ़ता रहा मेरा पानी निकलने लगा। उसके तेजी से अंदर बाहर होते लंड से मेरे पानी के टकराने से पच पच पच आवाज़े आने लगी।

इस दौरान हम दोनों के बीच संवाद जारी रहा। मैं उसका नाम ले उकसा रही थी और वो मुझे पूछता जा रहा था इतना जोर से ठीक हैं या ओर जोर से मारु। मैं उसको बोलती ओर जोर से, तो वो जोश में आकर ओर तेज झटके मारता।

बाहर मंडप में शादी के मंत्र पढ़े जा रहे थे और यहाँ अंदर हम एक दूसरे के नाम का जाप कर रहे थे। वो लगातार अश्लील शब्दों का इस्तेमाल करता हुआ मेरा और अपना उत्साह बनाये रख रहा था। हम दोनों ने काफी देर तक जम कर मजे लिए और हम एक साथ झड़ गए।

हम दोनों ऐसे ही नग्न अवस्था में थोड़ी देर पड़े रहे और अपनी ताकत बटोरने लगे। घडी की ओर ध्यान गया पौन घंटा हो चूका था। हमने तुरंत कपडे पहनना शुरू किया। अपने आप को व्यवस्थित कर हम फिर गार्डन की तरफ बढे।

हमने एक ही प्लेट में खाना खाया और दूसरे लोगो की नजरे बचा कर एक दूसरे को खाना भी खिलाया। शाम होने तक हमें जब भी मौका मिलता पास आ जाते और अपने मन की बात करते और अफ़सोस करते अब पता नहीं कब हमारा मिलन हो।

शाम को दुल्हन की विदाई होते होते हम बीच बीच में कई बार नजरे बचाते हुए उस कोने वाले बाथरूम में जाते और दो तीन मिनट के लिए एक दूसरे को गले लगा कर अपनी तड़प भी मिटा आते।

देर शाम को वधु की विदाई के बाद मौसी और मैंने होटल रूम में शादी के भारी कपडे बदल कर हलके कपडे पहन लिए, वापसी के सफर के लिए।

प्रशांत के भैया भाभी बाद में आने वाले थे। अब एक बार फिर हम चारो मेजबान से विदा लेकर अपनी कार में बैठ कर घर के लिए रवाना होने वाले थे।

मुझे लगा प्रशांत के साथ मेरा आखरी मिलन हो गया हैं पर मैं गलत थी।

देर शाम विदाई के बाद सभी मेहमान धीरे धीरे जाने लगे। हमने भी अपने बैग पैक कर लिए और विदाई ले कर कार तक आये। मैं मौसी के साथ पीछे बैठ गयी और प्रशांत अपने पापा के साथ आगे बैठा और कार चलाने लगा।

अँधेरा हो चला था और आधे घंटे के बाद ही उसने गाडी रोक कर सड़क किनारे लगा ली और कहा थकान हो रही हैं और नींद आ रही हैं।

मौसाजी ने कहा अब गाडी वो चला लेंगे। प्रशांत ने सोने का बहाना बना मौसी को आगे की सीट पर बुला कर पीछे आकर मेरे पास बैठ गया।
Reply

12-27-2021, 01:03 PM,
#32
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
पीछे आकर उसने गाडी की आगे की सीट के पीछे एक पर्दा था जो उसने यह कह कर लगा लिया कि आगे से आने वाली गाड़ियों की रोशनी से नींद में डिस्टर्ब होगा।

गाडी में अपने पापा के ज़माने के पुराने गानो का संगीत लगाने के लिए भी बोल दिया कि इससे नींद और अच्छी आएगी।

मुझे लगा सच में थक गया होगा, पर वो शरारत करने आया था पीछे। वह मेरे जांघो पर हाथ फेरता तो कभी पेट पर। मुझे अच्छा भी लगता और थोड़ा डर भी था कि आगे उसके मम्मी पापा बैठे हैं। मैं बिना आवाज़ के थोड़ा हंस भी रही थी उसकी शरारत पर।

मैंने नहीं रोका तो उसके हौसले अब बढ़ गए और वो मेरे ब्लाउज के हुक खोलने लगा। मैंने उसका हाथ झटक दिया। पर वो मानने वाला नहीं था। अँधेरे में किसी को कुछ दिखने वाला नहीं था पर आवाज़ नहीं करनी थी।

नया नया लगाव था तो मैंने भी ज्यादा विरोध नहीं किया, उसने जबरदस्ती मेरे ना चाहते हुए भी ब्लाउज और ब्रा के हुक खोल कर कपडे ढीले कर दिए।

अब वो अपना हाथ अंदर डाल कर मेरी चुचियाँ दबाने लगा। मुझे फिर वही अहसास होने लगा। पर सोचा अँधेरा हैं तो इसमें कोई बुराई नहीं हैं, मुझे सिर्फ अपनी आवाज़ दबाये रखनी थी नही तो पोल खुल जाएगी। अब वो मेरी गोदी में में सर रख लेट गया और अपना मुँह मेरी साड़ी के आँचल से ढक दिया।

मुझे अपने ऊपर झुकाते हुए ब्लाउज ब्रा को थोड़ा ऊपर उठा कर अब मेरा स्तनपान करने लगा। मेरी एक सिसकि निकली और तुरंत मुँह पर हाथ रख दबा ली। मैंने अपने आप को छुड़ाने की आधी अधूरी कोशिश की पर वो नहीं माना।

थोड़ी देर बाद वो उठ गया। मैंने फिर हुक लगाने चाहे पर उसने मना कर दिया और मेरा हाथ पकड़ कर अपने लंड पर रख दिया और और इशारो में कुछ करने को कहने लगा। मैंने उसके लंड को सहलाया और दबाया।

मैंने उसकी पतलून का हुक और चैन खोल दी और उसके लंड को अंडरवेअर से बाहर निकाल कर मलने लगी। ऐसा करने से वो उत्तेजित होने लगा और उसने मेरी गर्दन पकड़ कर अपने लंड पर झुका दिया, अब मैं उसके लंड को अपने मुँह में लेकर चूसने लगी। मैंने कोशिश कि की चूसने की कोई आवाज़ न निकले।

थोड़ी ही देर में उसका मूड बनने लगा और मेरा भी। पर कार में करना काफी मुश्किल था खासकर जब आगे कोई बैठा हो जिससे बचकर रहना था। मैं अब सीधा बैठ गयी।

प्रशांत अब मेरी तरफ बढ़ा और मेरे कपडे नीचे से उठा कर मेरे अंदर हाथ डाल कर नीचे से पैंटी निकालने लगा। मैं उसका हाथ दबा कर रोकने की बहुत कोशिश की, पर उसने जबरदस्ती पैंटी उतार कर मेरे बैग में डाल दी और मुस्कराने लगा।

मैं भी उसकी शरत पर थोड़ा हंसी। उसने मेरे वस्त्र घुटनो तक ऊपर उठा दिए थे और नंगी जांघो पर हाथ मल रहा था। उसका हाथ बार बार मेरे नाजुक अंगो को भी छू रहा था और मुझे मजा आ रहा था। मैं भी अपना हाथ बढ़ा कर उसके अंगो को सहलाने लगी।

उसने मुझे कंडोम का पैकेट दिखाया और खोल कर पहन लिया। मैं डर गयी उसका इरादा क्या हैं, यहाँ मुमकिन नहीं। उसने मेरा हाथ पकड़ कर मुझे उस पर बैठने का इशारा करने लगा। मैंने मना कर दिया और आगे की तरफ इशारा किया।

उसने इशारे में बताया किसी को पता नहीं चलेगा और मेरी बांह पकड़ कर अपनी और खींचने लगा। दर्द के मारे मैं उसकी तरफ खिसकी और उसकी गोदी में बैठने लगी। बैठने से पहले उसने नीचे से मेरे कपडे पुरे ऊपर उठा दिए जिससे हम दोनों के अंग अब छूने लगे थे।

मुझे एक गर्म और नरम अहसास हो रहा था। मैं भी शायद एक और मिले इस मौके को खोना नहीं चाहती थी। पर हमें बड़ी सावधानी बरतनी थी।

Reply
12-27-2021, 01:03 PM,
#33
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
मैंने उसका लंड पकड़ कर अपनी चुत के अंदर उतार दिया और धीरे धीरे ऊपर नीचे होने लगी। गाडी वैसे ही हिल रही थी तो शायद किसी को अहसास भी नहीं होता हमारे हिलने का।

वो भी नीचे बैठे जोर लगा रहा था और मैं भी। उसने मेरी साड़ी का पल्लू गिराते हुए आधे खुले ब्लाउज और ब्रा को मेरी बाहों से पूरा निकालने लगा। मैंने उसको रोकने की थोड़ी कोशिश की पर तब तक उसने तेजी से उनको उतार कर नीचे रख दिया। वो दोनों हाथो से मेरी चूचियों को दबाने लगा।

उस कम जगह और स्तिथि में जल्द ही मैं थकने लगी थी। उसने अब मुझे एक करवट पर सीट पर लेटा दिया था और अब अंदर बाहर धक्के मारने लगा।

यह स्थिति ज्यादा आरामदायक थी तो उसके धक्के ज्यादा जोर से लग रहे थे। मुझे और भी ज्यादा मजा आ रहा था, मैंने एक हाथ से अपना मुँह दबा लिया ताकि आवाज जोर से ना आये।

हम दोनों एक दूसरे की तेज सांसो और हलकी आँहो की आवाज सुन सकते थे। उम्मीद थी की आगे से कोई पीछे न देख ले या लाइट ना जला दे। उसने एक हाथ अब मेरे साडी की पटली पर रखा और निकालने लगा। मैंने उसका हाथ कस कर पकड़ लिया। पर उसकी ताकत के आगे नहीं जीत सकी।

मेरी पटली बाहर थी और वो अब मेरी पूरी साड़ी पेटीकोट से अलग करने लगा। मेरी रोने जैसी हालत थी। कार में साड़ी पहन पाना असंभव था। पर उस पर तो जूनून सवार था। मैंने उसको कोहनी से मारा। उसने अपना लंड मेरी चुत से बाहर निकाल दिया, मुझे बुरा लगा इस तरह अधूरा छूटना।

मैंने हाथ बढ़ाया ताकि बाहर निकली साडी फिर से पेटीकोट के अंदर डाल सकु पर उससे पहले ही उसने पेटीकोट का नाडा खोल दिया, और मेरा पेटीकोट और साड़ी पूरा निकाल कर मुझे नंगी कर दिया। मैंने सोच लिया आज तो पकडे जाना तय हैं।

मैंने सोचा अब ओर कोई चारा नहीं हैं, इस से अच्छा हैं पुरे मजे ही लूट लो। मैंने हाथ पीछे किया ताकि उसका लंड पकड़ कर फिर से अपने अंदर डाल सकू।

मेरे हाथ उसके कंडोम से फिसले और कंडोम के आगे के खाली हिस्से पर आकर रुके। मैंने उसको पकड़ कर अपनी तरफ खींचा जिससे कंडोम निकल कर मेरे हाथ में आ गया।

तब तक उसने बिना कंडोम का लंड मेरी चुत में घुसा दिया। उसका लंड भी पानी से चिकना हो चूका था तो उसको शायद जोश जोश में पता ही नहीं चला कि वो बिना प्रोटेक्शन के मेरे अंदर हैं।

अंदर घुसाते ही उसको ओर भी ज्यादा मजा आया। उसने जोर के झटके मारने शरू कर दिए। इस झटके से मेरे हाथ में पकड़ा चिकना कंडोम फिसल कर नीचे गिर गया।

मैंने तुरंत उसका ध्यान दिलाने के लिए उसकी जांघो पर थपथपाया पर मजे के मारे उसने ध्यान ही नहीं दिया और मेरी चूचियाँ दबोच ली। मैंने अब उसकी जांघो को जोर से दबाया तो उसको दर्द हुआ और मेरी चूचियाँ छोड़ मेरा हाथ पकड़ कर नीचे कर दिया और छोड़ा ही नहीं।

मैं बोल तो सकती नहीं थी, वरना आगे बैठे लोग भी सुन लेते। मैं अब अपनी मुंडी हिला कर उसको मना कर रही थी कि वो रुक जाए। पर उसको लगा जैसे मैं मजे के मारे मुँह हिला रही हु।

मैंने भी अब उसका ध्यान कंडोम की तरफ दिलाने का प्रयास करना बंद कर दिया। कपडे उतरने के बाद अब हम एक दूसरे की बॉडी के स्पर्श को अच्छे से महसूस कर पा रहे थे। जिससे हम दोनों का जोश दुगुना हो गया। वैसे एक बिना रबड़ पहने अंग की रगड़ का अहसास से मजा दुगुना ही होता हैं।

शाम तक सोचा नहीं था कि हम दोनों का फिर कभी मिलन भी होगा और अब हम इस जगह और स्तिथि में थे। उसका लंड मेरे अंदर फड़क रहा था और हम दोनों डूब कर मजे लेने लगे।

कहीं ना कही मन में डर भी था कि मैं फिर से गर्भवती ना हो जाऊ। बीच बीच में सोचने लगी घर जाकर क्या उपाय लेना हैं।

मैंने एक हाथ अपने मुँह पर रख लिया ताकि चीखों को दबा सकू। उसने मेरा कंधा अपने दाँतों के बीच दबाया हुआ था ताकि आवाज़ ना निकले।

हालांकि मुझे उसकी हलकी फुफकारने की आवाज़ आ रही थी पर गाडी के चलने की आवाज़ और अंदर बजते संगीत के बीच वो दब रही थी।

उसने अब मेरा हाथ छोड़ दिया था और मेरे कूल्हों, पेट, कमर और सीने पर फेरते हुए मजे ले रहा था। मैंने अपनी ऊपर वाली टांग उठा कर खिड़की के ऊपर रख दी।

मैं चाहती थी की उसको ओर ज्यादा जगह मिले अंदर गहराई तक उतर जाए। उसने मेरी चूचिया को जोर से दबाते हुए मेरी चुत के ओर भी अंदर तक उतारते हुए झटके मारने जारी रखे।

जैसे जैसे वो चरम के नजदीक पहुंचा, उसकी मेरी चूचियों पर पकड़ ओर भी टाइट हो गयी जिससे मुझे दर्द होने लगा। पर उसकी गहराई में घुसने से मेरा पानी निकलने लगा और मैं झड़ गयी।

थोड़ी ही देर में मैंने अपने अंदर एक गर्म पानी का फव्वारा महसूस किया। उसने तेजी से कुछ झटके अंदर मारते हुए अपने पानी की बौछार मेरे अंदर कर दी, दोनों ने बड़ी मुश्किल से अपनी आवाज़ को नियन्त्रिय किया। उसने दो चार झटके ओर मारे और उसका लंड अंदर ढेर हो गया।

हम दोनों अब उठ कर सीधे बैठ गए। उसको अब पता चला कि प्रोटेक्शन तो हैं ही नहीं। उसने मेरी तरफ देखा। मैं अपनी मुंडी हिला रही थी और उसकी जांघ पर फिर थपकी देकर उसको याद दिलाया मैं पहले क्या कहने की कोशिश कर रही थी।

पता चलते ही उसको अपनी गलती का अहसास हुआ और अपनी जबान बाहर निकाल कर दाँतों से दबाई और अपना एक कान पकड़ कर जैसे सॉरी बोल रहा था। उसका सॉरी अब मेरे किस काम का।

अब उसने तो अपने कपडे पहन लिए। मैंने साड़ी के अलावा बाकी के कपडे पहन लिए और उसकी और लगभग रोते हुए देखने लगी कि अब साडी कैसे पहनूं।

वो अपने मोबाइल पर कुछ टाइप कर रहा था, फिर उसने मुझको दिखाया। उसने लिखा था ये मेरे लिए आम हैं। अपनी बीवी को ऐसे ही कई बार कार में चोदा हैं और साडी भी पहनाई हैं। मुझे ये तो पता था कि उसकी साड़ियों की दूकान हैं पर उसको साडी पहनाने का इतना अनुभव हैं ये नहीं पता था।

साडी लेकर अपने हाथ के पंजो और कोहनी के बीच लपेटनी शुरू की। इस तरह उसने साडी को रोल कर लुंगी जैसा बना दिया और पिन से स्थिर कर दिया। उसने मेरी दोनों टाँगे पकड़ कर उठा ली और अपने जांघो पर रख कर मुझे लेटा दिया।

उसने लुंगीनुमा साडी को मेरे पेरो में पिरो कर ऊपर खींचते हुए कमर तक ले आया। साड़ी काफी ढीली थी उसने एक्सट्रा बचे हिस्से को तह बना कर फोल्ड किया पेटीकोट में घुसा दिया। साडी अब अच्छी खासी टाइट पेटीकोट से बंध चुकी थी।
Reply
12-27-2021, 01:03 PM,
#34
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
उसने लुंगीनुमा साडी को मेरे पेरो में पिरो कर ऊपर खींचते हुए कमर तक ले आया। साड़ी काफी ढीली थी उसने एक्सट्रा बचे हिस्से को तह बना कर फोल्ड किया पेटीकोट में घुसा दिया। साडी अब अच्छी खासी टाइट पेटीकोट से बंध चुकी थी।

मैंने बाकी की साडी के प्लीट्स बनाये और उसने ऊपर से नीचे तक साडी को अच्छे से व्यवस्थित कर दिया।

उसकी इस कला पर मैं फ़िदा हो गयी। असंभव लगने वाला काम उसने कर दिया था। मुश्किल काम हो चूका था तो मैंने बाकी की साडी बैठ कर पहन ली।

अब वो मेरे करीब आया और कानो में कहने लगा, अभी थोड़ा टाइम हैं तो एक राउंड और हो जाये। मैंने उसको धक्का देते हुए दूर किया।

बाकी के बचे रास्ते में हम दोनों एक दूसरे को छूते रहे और मस्ती करते रहे। जैसे ही हमने शहरी इलाके में प्रवेश किया, प्रशांत ने बीच का पर्दा हटा दिया। उसकी मम्मी सो रही थी तो उनको उठाया।

कार अब मेरे घर के बाहर थी, अंकल ने कार के अंदर की लाइट्स लगा दी। मौसी उठ गए और मेरे साथ बाहर आ गए। प्रशांत मेरा बैग निकालने डिक्की की तरफ गया।

मौसी ने कार के अंदर इशारा किया और कहा इसे बाहर फेंक दे। मैंने अंदर देखा आधा इस्तेमाल किया कंडोम पड़ा था जिसे हटाना हम भूल गए थे।

मेरे पैरो के तले जमीन खिसक गयी। मौसी को सब मालूम चल गया था। मैंने कंडोम उठा कर बाहर फेंक दिया। मौसी कार में जाकर बैठ गए और मैं ठगी सी वहाँ खड़ी रह गयी।

प्रशांत को अहसास हो गया था, उसने मेरा बैग थमाया और आँखों के इशारे से दिलासा दिलाया। वो गाडी में बैठ कर जा चुके थे और मैं धीमे भारी कदमो से घर के अंदर जाने लगी।

कुछ दिन बाद मुझको अपने पति और बच्चे के साथ फिर काम वाले शहर लौटना था. पर दो दिनों तक मैं इस तनाव में रही कि कहीं मौसी घर पर ना आ जाए और सास – पति को सब न बता दे।

इतने तनाव के मारे मेरा अगले ही दिन पीरियड भी आ गया था। इन दो दिनों में मैंने भी घर से बाहर निकलना छोड़ दिया था। जब भी घर में फ़ोन की घंटी बजती मेरा दिल धक् से रह जाता कही मौसी का ही फ़ोन तो नहीं।

खैर दो दिन बाद ही मुझे एक अनजाने नंबर से मैसेज मिला, वो प्रशांत का ही था। उसने लिखा था कि माँ ने अकेले में बहुत डांटा था और इस घटना का जिक्र किसी से भी ना करने को कहा हैं वरना सबकी बहुत बदनामी होगी। यहाँ तक की उसकी बीवी को भी पता नहीं चलने दिया हैं।

उस दिन के बाद मैं कभी उसके घर नहीं गयी और ना ही मेरे वहा रहते मौसी या प्रशांत कभी मेरे घर आये। यहाँ तक की मेरी कभी फ़ोन पर भी बात नहीं हुई। हमने इसे एक बुरे अध्याय की तरह भुला दिया।

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

खैर इस बात को अब कुछ समय बीत गया था। इस बीच अब ससुराल में बार बार जाने के बजाय मैंने पति को बोल कर सासुमां को ही हमारे साथ रहने के लिए बुला लिया था।

इससे दो फायदे हुए, एक तो सास को मौसी से दूर कर दिया ताकि भांडा ना फूटे और मेरे वहां ना जाने से उनको उस काण्ड की याद भी नहीं आएगी।
एक दिन मेरी माँ का फ़ोन आया कि घर में कुछ फंक्शन रखा हैं तो हो सके तो कुछ दिन पहले ही आ जाना, घर में इतने काम रहेंगे तो मदद हो जाएगी।

मैंने पति और सास से बात की और ये फैसला किया की बाकी लोग फंक्शन वाले दिन आ जायेंगे, पर मैं कुछ दिन पहले जाकर उनकी मदद कर दू।
मैं अपने मायके पहुंच गयी। मेरे पापा, मम्मी भैया और भाभी ने काफी काम पहले ही बाँट रखे थे। सबसे पहला काम था लोगो को निमंत्रण देना।

हमने इलाको के हिसाब से मेहमानो की तीन लिस्ट बना ली, एक लिस्ट पापा को, दूसरी भैया भाभी को तो तीसरी मेरे और मम्मी के हिस्से आयी जहाँ हमें निमंत्रण देने जाना था।

हमारी लिस्ट में वो एरिया था जो नया नया बसा था, जहां हमारे कुछ रिश्तेदार कुछ समय पहले ही शिफ्ट हुए थे। मुझे और मम्मी को उस एरिया के बारे में ज्यादा जानकारी नहीं थी।

परंतु उस एरिया के पास मुख्य सड़क पर मेरी मम्मी की सहेली सुधा आंटी रहती थी, जिनके घर मम्मी पहले जा चुकी थी। चूँकि वो उसी एरिया के पास रहती हैं तो उनको वहां की पूरी जानकारी हैं, कौन कहाँ रहता हैं।

निमंत्रण तो उनको भी देना ही था, तो ये तय किया की पहले उनके घर जाएंगे और फिर उनकी मदद से बाकी लोगो को भी निमंत्रण दे देंगे।

पहले सुधा आंटी हमारे घर के पास में ही रहते थे, इसी वजह से मेरी मम्मी और उनकी दोस्ती हुई थी। दोनों पक्की सहेलिया थी तो एक दूसरे के घर काफी आना जाना था तो हम बच्चे लोग भी अच्छे से जानते थे। कुछ सालो पहले ही वो अपने इस नए घर में रहने को आये थे।

अगले दिन दोपहर से पहले मैं और मम्मी भाभी की स्कूटी लेकर सुधा आंटी के वहां पहुंच गए। मैं उस एरिया में काफी सालों बाद आयी थी, तो सब कुछ बदला बदला सा लगा।

मम्मी भी काफी समय से नहीं आयी थी, तो वो भी थोड़ा कंफ्यूज थी नयी नयी गलियों की वजह से। पर सुधा आंटी का घर मुख्य सड़क पर था तो ज्यादा मुश्किल नहीं हुई।

उन्होंने हमारा स्वागत किया और बहुत अच्छे से आवभगत की। मुझसे वो काफी समय बाद मिल रही थी तो मेरी खैर खबर ली। उन्होंने मम्मी को अपनी अपडेट भी दी कि वो जल्द ही दादी बनाने वाली हैं, उनकी बहु बच्चे की डिलीवरी के लिए 2 महीनो से पीहर गयी हुई हैं।

Reply
12-27-2021, 01:03 PM,
#35
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
हमने उनको फंक्शन में आने का निमंत्रण दिया और फिर अपनी समस्या बताई की उनकी मदद चाहिए। उनको लिस्ट दिखाई तो उन्होंने कहाँ ये सब लोग यहाँ आस पास ही रहते हैं मैं आपको ले चलती हूँ वहां।

तभी उन्होंने कहाँ कि मैं पहले संजू को फ़ोन कर देती हूँ, वो दूकान से लंच के लिए इसी समय आता हैं। उसको थोड़ा थोड़ा लेट आने को बोल देती हूँ। वो फ़ोन कर ही रहे थे कि डोरबेल बजी। उन्होंने दरवाज़ा खोला तो संजू ही था।

संजू सुधा आंटी का लड़का था जिसकी बीवी डिलीवरी के लिए उसके मायके गयी हुई थी। संजू मेरे भैया का दोस्त भी था। क्यों कि पहले पडोसी थे और दोनों की मम्मिया पक्की सहेली थी तो उनके बच्चे भी आपस में दोस्त बन गए।

जब मैं छोटी थी और स्कूल में पढ़ती थी तो संजू के साथ खेला करती थी। पर जैसे जैसे उम्र बढ़ी लड़का लड़की में फ़र्क़ पता चला तो खेलना छूट गया और शर्म आने लगी। हालांकि संजू मेरे भैया का दोस्त था तो हमारे घर कभी कभार आता रहता था।

संजू ने अंदर आकर मेरी माँ के पाँव छुए और मुझसे हाय हेलो हुआ। आंटी ने संजू को पूरी बताई कि वो उसी को फ़ोन कर रहे थे। अब तुम आ ही गए हो तो पहले तुम्हारे लिए खाना बना देती हूँ, सब्जी तैयार हैं सिर्फ गरम करनी हैं और आटा गुंथा हुआ हैं सिर्फ रोटी डालनी हैं।

अब मेरी मम्मी ने बीच में अड़ंगा लगा दिया, वो बोली अरे संजू के लिए खाना तो मेरी बेटी बना लेगी, तब तक हम दोनों जाकर वो निमंत्रण का काम कर आते हैं।

मैंने अपनी अपनी मम्मी को घूरते हुए गुस्से से देखा कि वो कहाँ फंसा रही हैं। मम्मी ने तुरंत मेरा चेहरा पढ़ लिया और बोली बना ले वरना तो हम लेट हो जायेंगे, घर पर ओर भी काम पड़े हैं।

आंटी खुश हुए कि चलो आज खाना बनाने से छुट्टी और मम्मी खुश की समय बच जाएगा। मम्मी बोली हम आधे घंटे के अंदर आ जाएंगे निमंत्रण देके, जैसे उनको उस एरिया की पूरी जानकारी हो।

आंटी बोले चलो मैं तुमको किचन में सब सामान कहाँ पड़ा हैं बता देती हूँ। अब बीच में कूदने की बारी संजू की थी। वो बोला आप चिंता मत करो मम्मी मैं बता दूंगा सामान कहाँ पड़ा हैं मुझे पता हैं।

मम्मी और आंटी अब बाहर निकल पड़े। मैं उनको देखती ही रह गयी जब तक कि दरवाज़ा बंद नहीं हो गया।

संजू बोला आओ मैं तुम्हे बता देता हूँ सामान कहाँ हैं। किचन में ले जाकर बोला ये किचन हैं। मैंने सोचा बोल दूं कि मुझे भी दिख रहा हैं ये किचन हैं। उसने अब चकला, बेलन, लाइटर वगैरह सब सामान बताये।

उसने अब एप्रन लाकर दिया ताकि मेरी साड़ी खराब ना हो जाये। वो वही पीछे खड़ा रहा और मैंने रोटी बनाना शुरू किया।

मैंने पूछा कितनी रोटी बनाऊ? तो उसने लापरवाही से कहाँ जितनी प्यार से खिला सको उतनी बना दो।

बचपन में उसके साथ खेलते वक्त वो हमेशा मुझसे जीतता था और फिर बहुत चिढ़ाता था, तो उसपर गुस्सा भी आता था। और अब उसकी इस बात पर गुस्सा आया।

उसने आगे कहाँ कि तुम्हारी साइज के हिसाब से बताता हूँ। मैंने सोचा क्या मतलब था उसका, मैं तो ठहरी एक दुबली पतली लड़की तो फिर किस साइज की बात कर रहा था। मेरे सिर्फ स्तन और कूल्हे ही थोड़े बड़े थे।

पर उसने बात संभालते हुए बताया कि वो रोटी की साइज की बात कर रहा हैं। पहली बेली रोटी के आधार पर उसने चार रोटियों की फरमाइश की।

अगर अपने मेरी पिछली देसी हिन्दी सेक्सी स्टोरी “बेगानी शादी में सुहागरात मेरी” नहीं पढ़ी तो उसे जरुर पढ़िए।

उसने आगे बात करना जारी रखते हुए पूछा, तुम्हे पता हैं मेरी मम्मी मेरे लिए तुम्हारा हाथ मांगने आयी थी और तुम्हारी मम्मी ने ये कहते हुए मना कर दिया था, कि इतने पास में शादी नहीं करनी वरना झगडे ज्यादा होते हैं।
Reply
12-27-2021, 01:04 PM,
#36
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
मुझे याद हैं जब मैं हाई स्कूल में थी तब एक बार मेरी मम्मी मेरे पापा से ये बात कर रही थी। मैं तो इतनी बड़ी थी नहीं कि उन बातों में कोई दिलचस्पी दिखाती। वैसे भी मेरे घर वालो ने मना कर दिया था।

मैंने संजू को जवाब दिया, हां याद हैं, मेरी मम्मी पापा से बात कर रही थी और यही कारण दिया था। मैंने पूछा तुम्हे पता था?

वो बोला मैंने ही तो भेजा था उनको। मैं चुप हो गयी।

संजू ने पूछा अगर तुम्हारी मम्मी तुमसे राय मांगती तो तुम क्या कहती?

मैंने कहा पता नहीं, मैं तो छोटी थी, पढाई करनी थी तो शायद ना ही बोलती।

संजू ने पूछा अच्छा अगर ये सवाल तुम्हारे कॉलेज ख़त्म होने के बाद पूछा होता तो तुम क्या बोलती?

अब मैं असमंजस में पड़ गयी। अगर ना बोलती, तो कारण क्या बताती, अगर हां बोलू तो पता नहीं मेरे बारे में क्या सोचेगा।

सच्चाई तो ये थी की जब मैंने मेरे मम्मी पापा को उस ऑफर के बारे में बात करते सुना था तो मैं शर्मा गयी थी। उसके बाद जब भी वो हमारे घर आता था तो उसको देख कर मैं सामने जाने से कतराती थी पर छुप कर जरूर देखती थी।

शायद मन ही मन उसको अपना मंगेतर मान लिया था, जब तक कि कुछ सालों बाद मेरी सच मैं मेरे पति के साथ सगाई नहीं हो गयी थी।

फिलहाल मैंने सोचा उसका दिल क्या दुखाना सच तो खैर यही हैं, इसलिए मैंने जवाब दिया कि हां कह देती, ऐसा कुछ ना कहने के लिए था ही नहीं।

संजू बोला मैं तुम्हारे भैया से मिलने तुम्हारे घर आता था, असल में मैं इसलिए आता था कि इस बहाने से तुम्हे देखने का मौका मिल जाता था। कभी कभार तुमसे बात हो जाती तो आवाज सुनने को भी मिल जाती थी।

वो एक के बाद एक ऐसे राज बता रहा था और मुझे भी कुरेद कर मेरे दिल को टटोल रहा था।

उसने कहा कि स्कूल कॉलेज के समय से लेकर अब तक तुम काफी बदल गयी हो।

उसने पूछा एक बात बताउ, बुरा तो नहीं मानोगी?

मैंने कहा मैं अब पांच सात साल उम्र में ज्यादा हो गयी होंगी ओर क्या।

वो बोला नहीं, तुम पहले से भी ज्यादा खूबसूरत हो गयी हो। पहले सलवार कुर्ता पहनती थी और अब साड़ी, जिससे तुम्हारी पतली सेक्सी कमर अब अच्छे से दिखती हैं।

अपनी तारीफ़ सुन मैंने अपनी हंसी अंदर ही दबा ली और शर्मा गयी। उसने तारीफ़ जारी रखी, पहले तुम्हारे सीने का हल्का उभार था अब इतना ज्यादा कि अच्छी अच्छी हीरोइने भी देख कर शर्मा जाए।

तुम्हारे ब्लाउज के पीछे के जालीदार हिस्से से झांकती तुम्हारी पीठ की स्किन पहले नहीं दिखती थी अब दिखती है। और तुम्हारे…

मैंने उसको बीच में ही टोंकते हुए कहा बस बहुत हुई तारीफ़।

खाना तैयार था तो मैंने उसको थाली में लगा दिया उसको खाने के लिए बोल दिया। एप्रन निकाल कर रख दिया और बाहर जाने लगी।

उसने मुझे रोकना चाहा और कहा कि वो मेरे प्यार में पागल था। मैंने वहां से जाना ही ठीक समझा और बिना रुके उसके सामने से होते हुए निकलने लगी।

पर उसने पीछे से मेरे साड़ी का पल्लू पकड़ लिया था। जैसे ही मैं तेजी से आगे बढ़ी तो पल्लू खिंच गया और कंधे पर साड़ी और ब्लाउज पर लगी पिन की वजह से मेरा ब्लाउज कंधे से नीचे खिसक गया। फिर झटके से पिन भी निकल गयी और शरीर के ऊपरी भाग से साड़ी नीचे गिर गयी।

मेरी ब्रा का एक स्ट्रेप दिखने लगा और एक कंधा भी नंगा हो गया था। मेरे पेट से लेकर ऊपर के हिस्से में सिर्फ एक ब्लाउज ही बचा था। मैंने तुरंत पल्लू पकड़ा और अपनी तरफ खिंचा।

संजू अब पल्लू को अपनी कलाई पर लपेटता हुआ मेरे नजदीक आ गया। पास आते ही उसने मेरा नीचे खिसका हुआ ब्लाउज फिर से कंधे पर चढ़ा दिया। फिर उसने मेरा पल्लू भी छोड़ दिया।

मैंने फिर से पल्लू अपने ऊपर डाला और किचन के बाहर आ गयी।
Reply
12-27-2021, 01:06 PM,
#37
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
वो भी मेरे पीछे पीछे बाहर आया और कहने लगा मैं अब भी तुमसे उतना ही प्यार करता हूँ।

उसने मुझसे पूछा क्या तुम्हे भी मुझसे कभी प्यार रहा हैं।

मैंने कोई जवाब नहीं दिया।

वह ऊपर सीढ़ियों पर चढ़ने लगा और कहा, मैं ऊपर अपने कमरे में जा रहा हूँ, अगर तुम्हे मुझसे कभी भी थोड़ा सा भी प्यार रहा हो तो ऊपर आ जाना। मैं अब नीचे आके तुम्हे ओर परेशान नहीं करूँगा।

संजू सीढ़ियां चढ़ते हुए ऊपर जा चूका था। मैं वही दो मिनट खड़ी रही और सोचने लगी।

दिमाग कह रहा था अब कोई मतलब नहीं, इससे किसी का भी भला नहीं होने वाला। पर दिल कह रहा था कि थोड़े समय के लिए ही सही मुझे उससे प्यार और आकर्षण तो रहा था।

मैं इसी दुविधा में थी कि क्या करना चाहिए और मेरे कदम खुद-ब-खुद सीढ़ियां चढ़ रहे थे।

थोड़ी ही देर में मैं ऊपर पहुंच उसके कमरे के दरवाज़े के बाहर खड़ी थी। अंदर झाँका तो वो मेरी तरफ पीठ कर खिड़की से बाहर देख रहा था।

मैंने कमरे में प्रवेश किया और हाथ हिलने से मेरी चूड़ियाँ बज उठी। आवाज़ सुनते ही वो ख़ुशी से पलटा। मेरी करीब आया और कहने लगा मुझे पता था तुम जरूर आओगी।

उसने आगे बढ़ कर मुझे अपने सीने से लगा लिया।

मैं उसकी बाहों में जैसे पिघल रही थी। उसका हाथों की उंगलिया मेरे ब्लाउज की जालीनुमा डिज़ाइन से मेरे पीठ को छू रही था। मेरे वक्ष उसके सीने से थोड़ा दब से गए थे। अब मैंने भी अपने हाथ उसकी भुजाओ के अंदर डालते हुए पीछे से उसके कंधे पकड़ लिए।

कुछ मिनटों तक हम यही अहसास करते रहे कि पहले पहले पुराने प्यार की बाहों में कैसा सकून मिलता हैं। जब ये अहसास हुआ की ये सपना नहीं सच हैं तो हमने एक दूंसरे से गले लगना छोड़ा और अनायास ही हमारे होंठ एक दूंसरे के होठों की तरफ बढे और छू गए।

एक दूंजे के मुलायम होठों को छूते ही दोनों को एक झटका सा लगा और हम थोड़ा पीछे हट गए। फिर एक अल्पविराम के बाद दोनों के होंठ एक बार फिर मिले और इस बार एक दूंसरे का रस चूसने का मजा लिए बिना नहीं हटे।

कुछ सेकंड तक तो हमें होशो हवास ही नहीं रहा। जैसे तीन दिन के भूखे खाने पे टूट पड़ते हैं, वैसे ही हम एक दूंसरे के होंठों को दबा दबा के चूस रहे थे। जब हम दोनों का पेट भर गया तो एक दूंसरे को छोड़ा।

संजू के होठों पर मेरी लिपस्टिक लग गयी थी। मैंने अपना हाथ आगे बढ़ाते हुए उसके होंठ पोछने लगी। उसने तुरंत मेरी कमर में हाथ डाला और पकड़ कर अपनी तरफ खिंच कर नीचे से मुझको अपने से चिपका दिया। हम दोनों के नाजुक अंग कपड़ो के अंदर से ही एक दूंसरे को छू रहे थे।

उसने अब पीछे हाथ ले जाकर मेरे नितम्बो को पकड़ लिया और कहने लगा, शुरू से इच्छा थी इनको पकडू और बिना कपड़ो के देखु, मेरी एक इच्छा पूरी कर दो।

मैंने अपने आप को छुड़ाया और उसकी और पीठ करके खड़ी हो गयी और कहा, कर लो अपनी इच्छा पूरी। वो मुझे धकियाते हुए बिस्तर के पास ले गया और पेट के बल उल्टा लेटा दिया।

उसने अब मेरा पेटीकोट साड़ी सहित ऊपर उठाया, जब तक की मेरी पैंटी पूरी ना दिख गयी। फिर उसने मेरी पैंटी पकड़ कर नीचे खींच दी और मेरे बड़े नितम्बो पर दोनों हाथों को फेरते हुए दबाने लगा।

अब उसने मेरी पैंटी पैरो से पूरी बाहर निकाल दी। मैं तुरंत उठ खड़ी हुई और अपने पेटीकोट साडी को नीचे कर दिए।

मैंने कहा बात सिर्फ देखने और छूने की हुई थी तो हो गया।

वो बोला किस अंग से छूना हैं वो थोड़े ही ना डीसाईड हुआ था। ऐसा कह कर उसने अपनी पैंट और अंडरवियर निकाल दी।

मैं उसका लंड देखने लगी जो कड़क होकर तैयार था। इतना आगे बढ़ने के बाद मुझे भी पीछे मुड़ना ठीक नहीं लगा।

उसने कहा, अब ओर मत तड़पाओ, मिलन होने जाने दो, बहुत सालो से तड़पा हूँ।

मैंने पूछा प्रोटेक्शन कहाँ हैं?

उसने कहा वो तो नहीं हैं, मैंने और बीवी ने बच्चा प्लान किया था तो प्रोटेक्शन की जरुरत ही नहीं थी कुछ महीनो से।

मैंने कहा सिर्फ तुम्हारे लिए मैं थोड़ा रिस्क लेने को तैयार हूँ बिना प्रोटेक्शन के पर तुम बहुत ध्यान रखना, कुछ गड़बड़ नहीं होनी चाहिए।

समय भी कितना तेजी से बदलता हैं, कुछ समय पहले मैं और पति एक बच्चे के लिए कितने लोगो से मदद ली और दुआ करते थे अब कुछ हो जाए और आज मैं कोशिश करती हूँ कि कुछ ना हो।

खैर मैंने अब उसको बिस्तर पर लेटा दिया। सारी जिम्मेदारी मुझे ही लेनी थी। मैंने अपने कपडे नीचे से ऊपर किये और अपने दोनों पाँव उसके दोनों तरफ फैला कर उसके लंड पर इस तरह बैठी की मेरी पीठ उसके मुँह की तरफ रहे।
Reply
12-27-2021, 01:06 PM,
#38
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
खैर मैंने अब उसको बिस्तर पर लेटा दिया। सारी जिम्मेदारी मुझे ही लेनी थी। मैंने अपने कपडे नीचे से ऊपर किये और अपने दोनों पाँव उसके दोनों तरफ फैला कर उसके लंड पर इस तरह बैठी की मेरी पीठ उसके मुँह की तरफ रहे।

मैंने उसको कहा तुम्हारी पसंद के अनुसार मिलन के समय तुम मेरे नितंब देखते रह पाओगे और छू भी पाओगे। मैं थोड़ा ऊपर उठी और उसका लंड पकड़ कर अपनी चूत में घुसा दिया।

इतनी देर की छुअन से वैसे भी मेरे अंदर गीला हो चूका था, तो उसका फट से अंदर फिसलता हुआ घुस गया। उसकी एक जोर की आह निकली। जिसको दिल से प्यार करते हो तो शारीरिक सम्बन्ध के वक़्त वैसे भी मजा कुछ ओर होता हैं।

मैं ऊपर नीचे होने लगी, उसका लंड मेरी चूत की दीवारों को रगड़ते हुए अंदर बाहर होने लगा। उसकी जोर जोर से सिसकिया चालु हो गयी। उसकी आवाज़ सुन मुझे भी मजा आने लगा।

वो मेरे नीचे के कपड़ो को अपने हाथ से बार बार उठा कर ऊपर रखने की कोशिश कर रहा था। उसने शिकायत की के मेरे कपडे नीचे गिर रहे हैं जिससे वो मेरा पसंदीदा अंग देख नहीं पा रहा हैं।

मैंने अब अपनी साडी के प्लीट्स पेटीकोट से बाहर निकालने लगी। वो भी मदद करते हुए साड़ी को पेटीकोट से अलग करने लगा।

साडी निकाल कर अलग रखने के बाद मैंने अपने पेटीकोट का नाड़ा खोला और टीशर्ट के भांति सर के ऊपर से निकाल दिया।

जिससे अब वो मेरी पतली कमर और नितम्बो को अब आसानी से देख सकता था। वो मेरी कमर और कूल्हों पर हाथ फेराने लगा।

अब मैं उसके पैरो की तरफ आगे झुक गयी और ऊपर नीचे हरकत करते हुए उसके लंड को अंदर बाहर करते हुए उसको मजा दिलाती रही।

रवि की माँ और बहन ने कैसे एक चुदक्कड रूप धारण किया और उसके साथ चुदाई के मजे लिए, यह उसकी हिन्दी चुदाई स्टोरी में जानिए।

उसने भी मेरे नितम्बो को पकड़ के चौड़ा कर दिया, जिससे वो अपने लंड को मेरे छेद में अंदर बाहर होते हुए देख पाए। वो सिसकिया मारते हुए बोले जा रहा था, आज तो मजा आ गया, तुम्हारे सेक्सी कूल्हों को नंगा देखा और मेरे लंड को अंदर बाहर होते हुए देख कर जन्नत मिल गयी।

थोड़ी देर हम दोनों ऐसे मजे लेते रहे। अब मैं फिर सीधी बैठ गयी। मैंने अपने हाथ पीछे किये और पीछे झुकते हुए दोनों हाथ उसके सीने पर रख दिए।

अब मैं एक बार फिर ऊपर नीचे होने लगी। उसने अपने दोनों हाथ मेरे ब्लाउज पर रख चुचियाँ दबाने लगा। फिर पीछे से मेरे ब्लाउज और ब्रा के हुक खोल दिए।

मैंने एक एक करके हाथ सीधा किया और उसने ब्लाउज और ब्रा को मेरे हाथों से पूरा निकाल दिया। मैं अब पूरी नंगी हो चुकी थी।

मेरा सीना छत की तरफ था और वो अपने दोनों से मेरे आगे पीछे उछलते हुए चूँचियो को दबा कर मसलने लगा।

मेरी चुत में अंदर बाहर होते लंड के साथ चूंचियो के दबने से मुझे भी मजा आने लगा। पर फिर मैंने सोचा ज्यादा देर करना भी थोड़ा रिस्की हैं। मैं सीधा बैठ गयी और उसके ऊपर से उठ गयी।

हालांकि दोनों का झड़ना बाकी था पर रिस्क भी नहीं लेना था। मेरा बाहर निकालना उसको भी पसंद नहीं आया। जैसे ही मैं बिस्तर से उतरी वो भी उतर गया और मुझे पीछे से पकड़ लिया।

उसने मुझे बिस्तर पर धक्का देते हुए उल्टा लेटा दिया और दोनों टाँगे ऊपर उठा कर चौड़ी करते हुए, अपनी कमर के दोनों तरफ ले गया, जिससे उसका लंड फिर मेरी चुत को छू गया।

मैं सिर्फ कोहनियो के बल बिस्तर पर थी और बाकी का शरीर हवा में था। वो मेरी दोनों जांघो को हवा में पकडे अपने कड़क लंड से मेरी चुत में निशाना लगाने लगा। थोड़ी ही देर में उसका निशाना लगा और उसने फिर मेरे अंदर अपना लंड डाल दिया।
Reply
12-27-2021, 01:06 PM,
#39
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
वो मेरी दोनों जांघो को पकडे आगे पीछे करते हुए मजे लेने लगा। हवा में इतनी करतबबाजी से मैंने पहले कभी नहीं चुदवाया था और मुझे मजे आने लगे। मैं जोर जोर से आई ऊई करने लगी।

थोड़ी ही देर में फचाक फचाक की आवाज़े आने लगी और मैं झड़ने को आई तो सिसकिया चीखों में बदलने लगी।

अह्ह्ह्हह्ह संजू आज कर लो अपनी इच्छा पुरी अह्ह्ह्हह ठोको मेरी चूत को ऐसे ही अह्ह्ह्हह्ह ऐसे ही करो मेरी चूत की ठुकाई!

ये सब बड बडाते हुए, थोड़ी ही देर में चीखते चिल्लाते हुए मैं झड़ गयी।

वो अब भी मुझे बुरी तरह से चोदे जा रहा था। मैंने उसको कहा अब छोड़ दो वरना कुछ हो जायेगा। वो भी इतनी देर से मुझे आधा उठाये उठाये अब थकने लगा था तो मुझे छोड़ दिया। मैंने चैन की सांस ली।

उसका अभी हुआ नहीं था, तो मेरी तरफ तरसती निगाहो से देख रहा था।

मैंने कहा अभी मुझे रिस्क नहीं लेना हैं, तुम्हारा काम मैं हाथ से ही कर देती हूँ। उसको तो पूरा अंदर घुस कर ही करना था पर उसने हां बोल दिया, भागते भूत की लंगोटी ही सही।

उसने कहा, वाश रूम में कर लेते हैं यहाँ कमरे में गन्दा हो जायेगा। वाशरूम नीचे की तरफ था।

मैंने अपने सारे कपडे वापस पहन लिए। वो अपनी पैंट हाथ में पकडे मेरे साथ सीढ़ियों से होते हुए नीचे आने लगा।

मैंने उसको पूछा कोई अंदर आ तो नहीं जायेगा।

उसने कहा नहीं आएगा, मम्मी चाबी लेकर नहीं गए हैं। हम दोनों अब वाशरूम में घुस गए।

मैंने देखा इतनी देर में उसका लंड मुरझा कर लटक रहा था। मैंने थोड़ा नीचे झुकी और उसका लंड अपनी मुट्ठी में भरकर आगे पीछे खींचने लगी।

कुछ मिनटों की इस खींचातानी से वो फिर से खड़ा होने लगा। एक बार खड़ा हुआ तो मैंने उसको हाथ से रगड़ने लगी। थोड़ी ही देर में उसकी सिसकिया निकलनी शुरू हो गयी।

उसकी फरमाइश थी कि वो मेरे मम्मो के बीच में लंड रख कर रगड़ना चाहता है। मैंने कहा ठीक हैं पर कैसे करोगे, यहाँ तो बैठने की भी जगह नहीं।

उसने कहा बाहर हॉल में सोफे पर करते हैं।

मैंने पूछा वहा गन्दा नहीं होगा क्या, तुम्हारा पानी कहाँ निकालोगे।

उसने कहा वो मेरी चूचियों पर ही पानी निकालेगा।

पर मैंने मना कर दिया कि ऐसी गन्दगी मुझे नहीं चाहिए। आखिर में ये डीसाईड हुआ कि वो मेरे मम्मो के बीच लंड रगड़ेगा पर पानी वाशरूम में आकर ही निकालेगा।

अब हम लोग सोफे पर आ गए। मैंने अपना पल्लू हटा कर ब्लाउज और ब्रा निकाल दिया। उसने मुझे सोफे पर लेटाया और मुझ पर झुक कर अपना लंड मेरे दोनों मम्मो के बीच रख दिया।

मैंने अब अपने दोनों मम्मो को साइड से दबाते हुए उसका लंड को बीच में झकड़ लिया। वो अब आगे पीछे होता हुआ मेरे मम्मो के बीच चोदने लगा।

थोड़ी देर तक ऐसे ही करते करते वो आहें भरने लगा। मेरे सीने पर रगड़ से पसीना होने लगा या वो उसका रिसता हुआ पानी था ये पता नहीं चला।

मैंने उसको फिर चेताया पानी निकलने से पहले उठ जाना, मेरे ऊपर मत डालना। उसने बोला अभी टाइम हैं और जोर से झटके मारने लगा।

कुछ मिनट तक ऐसे करते रहने के बाद उसने अपना लंड पीछे खिंच लिया। मैंने अपने मम्मे छोड़ दिए और कहा अब वाशरूम में जाकर कर आओ।

मैंने अपना वाक्य पूरा ही किया था कि उसके लंड से एक पानी का फव्वारा छूटा और मेरी आँख पर टकराया। फिर दूंसरा फव्वारा मेरे होंठ पर आया। फिर बड़ी बड़ी बुँदे मेरी चूचियों पर आ गिरी।

मैं उसको गुस्सा में कुछ बोलती उससे पहले ही वो कान पकड़ कर सॉरी बोलने लगा और कहा कि क्या करू कण्ट्रोल नहीं हुआ। तुम्हारे मम्मे हैं ही इतने जबरदस्त।

फिर मैं भी क्या कर सकती थी। उसको कुछ साफ़ करने के लिए लाने को कहा। वो भागता हुआ गया और नैपकिन ले आया। मैंने नैपकिन से गन्दा पानी साफ़ किया। मेरा मुँह और चूचियाँ चिपचिपी हो गयी थी।

मैंने अपना ब्लाउज और ब्रा उठाया और वाशरूम में जाकर पानी से पोछ कर चिकनाई मिटाई। उसने भी अपने आप को साफ़ किया और हम कपडे पहन कर हॉल में आ गये।

उसने 5 मिनट में जल्दी जल्दी खाना खा लिया। फिर बाहर की घंटी बजी। दरवाजा खोला तो हम दोनों की मम्मिया आ गयी थी।

उन्होंने कहा सब जगह थोड़ी थोड़ी देर रुकना पड़ा और चाय नाश्ता करना पड़ा इस कारण बहुत देर हो गयी। आंटी ने पूछा तुम दोनों भी खाना खाकर ही जाओ। मेरी भूख प्यास तो वैसे ही उनके बेटे ने मिटा दी थी।

हम लोग इजाजत लेकर वहां से निकल पड़े। मम्मी ने पूछा हम गए थे तब तुम्हारी शक्ल पे बारह बजे थे, अभी आये तो एकदम खुश लग रही थी।

कुछ शक हो उसके पहले ही मैंने बोल दिया आपका इंतज़ार करते करते इतना टाइम हो गया, तो आपको देख कर ही खुश हो गयी।

फंक्शन के दिन देर सुबह मेरे पति हमारे बच्चे सहित मेरे पीहर पहुंच गए थे। सारा कार्यक्रम घर के पास पांच मिनट की दुरी पर एक कम्युनिटी हॉल में रखा गया था।

संजू भी शाम को फंक्शन में आने वाला था। मुझे डर था कि हमारे बीच उसके घर जो भी हुआ उसके बाद कही वो पति के सामने कोई ऐसी वैसी हरकत ना कर दे कि पति को शक हो जाए।

पापा और भैया नाश्ता करने के बाद ही कार्यक्रम स्थल पर व्यवस्था सँभालने के लिए चले गए।
Reply

12-27-2021, 01:06 PM,
#40
RE: Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र
संजू भी शाम को फंक्शन में आने वाला था। मुझे डर था कि हमारे बीच उसके घर जो भी हुआ उसके बाद कही वो पति के सामने कोई ऐसी वैसी हरकत ना कर दे कि पति को शक हो जाए।

पापा और भैया नाश्ता करने के बाद ही कार्यक्रम स्थल पर व्यवस्था सँभालने के लिए चले गए।

बाकी हम सब लोग भी नाश्ते के बाद घर का काम निपटा कर नहा धो कर तैयार हो गए थे। पति चूँकि सफर से आये ही थे तो वो नहा कर नाश्ते के लिए आ गए।

मम्मी ने कहाँ कि हॉल में शाम की तैयारी में सहायता के लिए जाना हैं, तो एक जन दामादजी को नाश्ता कराने रुक जाओ बाकि सब चलते हैं।

मैंने कहा मैं रुक जाती हूँ। भाभी ने सुझाव दिया कि उन्हें वैसे भी बर्तन धोने बाकी हैं तो उनको रुकना ही पड़ेगा, तो वो मेरे पति को नाश्ता करवा देंगे और बाद में हॉल में ले आएंगे।

तो फिर मैं अपनी मम्मी और अपने और भैय्या के बच्चो के साथ हॉल की तरफ निकल पड़े।

पांच मिनट में हम वह पहुंच गए।

हॉल में पहुंचने पर याद आया मेरा मोबाइल तो घर पर ही छूट गया। मैं माँ को बोलकर फिर घर के लिए निकली। जाते वक़्त शायद हमने बाहर का दरवाज़ा लॉक नहीं किया था तो थोड़ा खुला ही था। मैं सीधा अंदर चली गयी।

डाइनिंग टेबल पर देखा तो पति नहीं थे। मैंने टेबल पर रखा मोबाइल उठाया। फिर उत्सुकतावश किचन की तरफ देखा, वहां भी भाभी नजर नहीं आये।

एक स्त्री होने के नाते दिमाग में कुछ खटका। मैंने देखा भैय्या के कमरे का दरवाज़ा बंद था, पर भैय्या तो कम्युनिटी हॉल में थे।

मैं अब धीरे धीरे भैया के कमरे की तरफ बढ़ी और दरवाज़े के बाहर खड़े होकर कान लगा सुनने की कोशिश करने लगी।

अंदर से रह रह के भाभी के खिलखिलाने की आवाज़ आ रही थी।

देसी कहानी पर आपके लिए बहुत सी हिन्दी पोर्न स्टोरी उपलभध है जिनका आप मजा ले सकते है!

मुझे शक हुआ कही मेरे पति भाभी के साथ अंदर तो नहीं। मैं थोड़ी देर के लिए अतीत में चली गयी।

मेरे पति मेरी भाभी को हमारी शादी के पहले से जानते थे, क्यों कि मेरे पति के बड़े चचेरे भाई की साली बाद में मेरी भाभी बनी थी।

हमारी शादी के पहले ही इन दोनों की अच्छी खासी बातें होती थी। पर पहले कभी मुझे शक नहीं हुआ था, क्योकि शादी के बाद से ही हम दूसरे शहर में रहते थे।

कमरे के अंदर से आती आवाज़ों से मैं बेचैन होने लगी। एक इच्छा हुई कि दरवाज़ा तोड़ के अंदर चली जाऊ और उनको रंगे हाथों पकड़ लु। फिर सोचा अगर अंदर गयी और कुछ नहीं निकला तो मेरी ही फजीहत हो जाएगी।

फिर मैंने फैसला किया कि मकान के साइड में इस कमरे की खिड़की हैं, वहां से झांक कर देखती हु, शायद कुछ दिख जाए।

मैं बाहर निकली और खिड़की के करीब पहुची।

अंदर झाँका तो कांच की खिड़की बंद थी, अंदर पर्दा लगा हुआ था और कुछ दिख नहीं रहा था। मैं थोड़ी निराश हुई कि अब क्या किया जाए।

मैं फिर घर के अंदर पहुंची। फिर मैंने देखा कि कमरे के दरवाज़े के ऊपर का रोशनदान खुला हैं।

मैंने अपने बैग से सेल्फी स्टिक निकाली और अपना मोबाइल उस पर लगा के वीडियो मोड चालू कर दिया। मैंने अपनी सेल्फी स्टिक पूरी लम्बी की और रोशनदान के वहां लगा दिया और अंदर का दृश्य देखने लगी।

मोबाइल से अंदर का नजारा देख कर मेरे होश उड़ गए।

मेरे पति मेरी भाभी के साथ बिस्तर पर थे और दोनों अर्धनग्न हालत में थे। भाभी नीचे लेटी थी और पति उनकी चूचियों को चुस रहे थे। मेरी हालत काटो तो खून नहीं वाली हो गयी।

थोड़ी देर तो कुछ सुझा ही नहीं। मेरा माथा ठनक गया, और लड़ाई के मोड में आ गयी। मगर फिर अपने किये हुए काण्ड याद आ गए। पति की पीठ पीछे मैंने भी तो ऐसा ही कुछ किया हैं। यहाँ तक कि एक काण्ड का तो गवाह भी हैं।

अगर किसी दिन पति को पता चल गया तो। फिर सोचा कभी पकड़ी गयी तो ये वीडियो मेरे काम आएगा पति को चुप कराने के लिए।

मैंने मन ही मन फैसला ले लिया था कि मुझे अभी कोई एक्शन नहीं लेना हैं। बस ये सबूत साथ रखना हैं समय आने पर काम आएगा।

इस बीच मेरी भाभी अब एक्शन मोड में थी और मेरे पति का लंड अपने मुँह में ले अपना हाथ उस पर घुमाते हुए मजे लेते हुए चूस रही थी। मुझसे देखा नहीं गया और बहुत जलन हुई।

मैंने अब वो सेल्फी स्टिक नीचे की और वीडियो बंद किया। फिर बाहर का दरवाज़ा धीरे से बंद कर वापिस हॉल की तरफ बढ़ी।

पुरे रास्ते कमरे के अंदर का दृश्य ही मेरी आँखों के सामने घूम रहा था। मेरे साथ मेरे भैया का घर भी बर्बाद हो रहा था। इसी चिंता के साथ मैं हॉल में दूसरे कामों को करने लगी।

आधे घंटे के बाद मेरे पति, भाभी के साथ हॉल में पहुंचे। दोनों के चेहरे की लाली देखते ही बनती थी। मुझे तो खैर पता था इस लाली का राज क्या हैं।

मैंने कई बार नोटिस किया कि काम के बीच बार बार नजरे बचा के वो दोनों एक दूसरे को शरारत भरी नजरो से देख रहे थे और हंस रहे थे।

कई बार मैं इधर उधर काम में व्यस्त होती और वो थोड़ी थोड़ी देर के लिए कही गायब भी हो जाते।

मैंने एक बार उनको फॉलो करने की सोची। पहले भाभी वहां से निकले और उसके कुछ सेकंड बाद पति उनके पीछे पीछे निकले। मैं चुपके से फॉलो करती हुई बाहर गयी।

हम निचली मंजिल पर थे, पर वो लोग दूसरी मंजिल के वाशरूम की तरफ गए थे। मैं भी छुपते हुए वहां पहुंची। वो दोनों एक ही वाशरूम में घुसे थे।

मैं बिना आवाज़ किये दरवाज़े के पास पहुंची। अंदर से फुसफुसाने की आवाज़ आ रही थी। भाभी की चूडियो के खनकने की आवाज़ तो कभी कपडे सरकने की आवाज़।

थोड़ी देर में चप चप की आवाज आने लगी, शायद ये चूचिया चूस रहे थे या भाभी उनका लंड। मैं मन मसौस कर रह गयी। गुस्सा कण्ट्रोल करना पड़ रहा था।

शायद अब तक जो मैंने पति को धोखे दिए हैं उनकी सजा इस तरह मिल रही थी। मैं यही सोचती रह गयी और अंदर से उनकी सिसकियों की आवाज़ शुरू हो गयी।

थोड़ी देर में मेरे गुस्से की जगह उनकी आवाज सुन कर मेरे को भी कुछ कुछ होने लगा। मैं अपने हाथों से अपने ही अंग दबाने लगी। काश अंदर भाभी की जगह मैं होती।

अंदर से अब जोर जोर की आवाजे आने लगी। भाभी कह रही थी अशोक धीरे धीरे करो मेरी जान निकल रही हैं, मेरी चीखें निकल रही हैं कोई सुन कर आ जायेगा।

पति हाँफते हुए बोले बाकी लोगो का काम नीचे हो रहा हैं, ऊपर सिर्फ हमारा काम हो रहा हैं, कोई नहीं आएगा।

भाभी की बीच बीच में हलकी चीखें निकल रही थी और पति तो सिसकिया भर रहे थे।

भाभी बोली तुम्हारे से करवाने का सबसे बड़ा फायदा हैं कि प्रोटेक्शन बीच में नहीं आता। तुमको कुदरत का वरदान हैं कितना भी करो लड़की माँ नहीं बन सकती।

ये बात सुनकर मैं सन्न रह गयी। मैंने और पति ने वादा किया था कि हम दोनों के अलावा ये राज किसी ओर को पता नहीं चलनी चाहिए। इसका मतलब भाभी को पता हैं कि मेरे बच्चे का बाप मेरा पति नहीं हैं।

ऐसी चीटिंग तो मैंने भी कभी नहीं की थी कि घर के राज बाहर बता दू।

थोड़ी ही देर में दोनों जोर की आवाजे निकालते हुए झड़ गए।

मैं तुरंत वहां से निकल फिर नीचे वाली मंजिल पर आ गयी और अपने कामो में लग गयी। थोड़ी देर में वो दोनों भी थोड़े थोड़े अंतराल पर वहां आ गए और इस तरह काम करने लगे जैसे कुछ हुआ ही न हो।

दिन भर मैं उनकी हरकतें इसी तरह झेलती रही। शाम को हम तैयार होने के लिए घर पर आ गये।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 12 84,478 01-14-2022, 10:25 AM
Last Post: deeppreeti
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 246 1,474,488 01-12-2022, 09:15 PM
Last Post: [email protected]
Star Muslim Sex Kahani खाला जमीला desiaks 100 134,620 01-09-2022, 11:40 AM
Last Post: Sidd
Thumbs Up Hindi Antarvasna - एक कायर भाई desiaks 132 134,333 01-08-2022, 06:14 PM
Last Post: desiaks
Star Porn Sex Kahani पापी परिवार sexstories 353 1,697,753 12-23-2021, 04:27 AM
Last Post: vbhurke
Star Free Sex Kahani लंसंस्कारी परिवार की बेशर्म रंडियां desiaks 54 569,945 12-23-2021, 04:13 AM
Last Post: vbhurke
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 126 1,126,531 12-20-2021, 07:55 PM
Last Post: nottoofair
Thumbs Up XXX Kahani नागिन के कारनामें (इच्छाधारी नागिन ) desiaks 63 79,642 12-08-2021, 02:47 PM
Last Post: desiaks
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 156 453,187 12-06-2021, 02:26 AM
Last Post: Babasexyhai
  Antarvasnasex मेरे पति और उनका परिवार sexstories 5 119,161 11-25-2021, 08:48 PM
Last Post: Burchatu



Users browsing this thread: 11 Guest(s)