Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
01-29-2021, 11:49 AM,
#31
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
Dusri side Pinki aur Reet dono fir se gaon me ek aur chakar lagane ke liye chali jati hai. Reet dekhti hai ki Pinki bahot der se apne phone me message kar rhi thi.

Uske man me aata hai, ke kahin Pinki ka koi boy friend toh nhi hai. Par par wo kuch nhi bolti, kyoki wo samjhti hai, ki Pinki bahot hi shareed ladki hai.

Wo ghumte hue gaon ke bahar ek khet ki aur jati hai. Pinki yellow color ka suit dala hua tha, jiska neck kafi deep tha. Jisme uske boobs ke bich ki line bhi saaf saaf dikh rhi thi. Aur uski Patiala shahi salwar me uske mote mote chuttar apni puri shape me dikh rhe the.

Reet bhi kuch kaam nhi lag rhi thi. Wo dono kamaad ke khet ke pass aa jate hai. Achanak Pinki ka phone ring karne lag jata hai aur wo phone ko pick up karke boli.

Pinki – Khana hai ? Acha acha main aayi abhi ok.

Pinki ne phone cut kar diya aur Reet ko boli – Reet yaar tu yahan ek minute ke liye ruk mujhe kmaad check karni hai dady ne mujhe kha tha.

Reet – Koi baat nhi Pinki main bhi tere sath chalti hoon.

Pinki – Nhi yaar tu yahin par reh andar bahot bade bade sanp hote hai.

Sanap ka naam sun kar Reet dar jati hai aur boli – Thik hai Pinki tu ja main tera yhain par wait kar rhi hoon.

Pinki kamaad ke khet ke andar chali jati hai. Itne Reet ke pass Jyoti ka phone aa jata hai aur wo uska phone pick up karke boli.

Jyoti – Hello meri sexy jaan kya haal hai tere ?

Reet – Thik hai Jyoti yaar tu suna.

Jyoti – Main toh ek dam thik hoon, tu suna whan kya chal rha hai ?

Reet – Kuch nhi bas main toh gaon ki sair kar rhi hoon.

Jyoti – Jyada sair na karyio gaon ke ladke apna hath fer dengen tere uper. Ye sale gaon ke ladke bahot harami hote hai.

Reet – Yaar tu kabhi toh acha bol liya kar.

Jyoti – Chal chhod is baat ko, tu ye bta ki teri mummy kya kar rhi hai ?

Reet – Mummy shadi wale ghar me bade mummy ke sath kaam karwai rhi hai.

Jyoti – Thik hai par tu apni mummy par ankh rkhayio khin teri mummy koi kaam na kar le. Gaon ke sare mard shehar ki aurto ke diwane hote hai.

Jyoti ki ye baat sunte hi Reet ko garami chad jati hai aur wo boli – Jyoti tu ye kon si baten kari ja rhi hai, gaon me aisa kuch nhi hota yaar.

Jyoti – Tujhe kya pata gaon me bahot kaand hote hai. Dekh liyo tu jarur koi na koi mard teri mummy ke chuttaro ka diwana hoga. Aur wo teri mummy ke chuttaro ko maslne ki tyari me hoga.

Reet apni mummy ke cuttaro ke bare me soch kar hi garam ho jati hai.

Reet -Par Jyoti yahan ke aurto ke chuttar meri mummy se bhi bade hai.

Jyoti – Acha ji fir toh sari ache se thuki hui hai.

Reet – Haan haan tabhi toh itne mote mote chuttar ho rkhe hai yahan ki aurto ke.

Jyoti – Tu apni najar apni mummy par rkhyio, khin koi teri mummy koi lambi na paa le.

Reet – Han thik hai.

Jyoti – Thik hai main ab rakhti hoon.

Reet phone cut karti hai, aur sochne lag jati hai ki itni der ho gyi hai Pinki abhi tak aayi kyo nhi. Wo apne phone se Pinki ko phone karti hai. Par Pinki phone pick nhi kari. Reet ko lagta hai, ki khin Pinki ko koi sanap ne na kaat liya ho. Reet ab uski chinta hone lag jati hai. Isliye kamad ke khet me andar jane ka fasila karti hai.

Reet darte hue thodi aage jati hai, Reet thodi si aur aage jati hai. Toh use Pinki aur ek ladke ki awaj sunai deti hai. Reet man me sochti hai ki jarur koi gadbad hai. Wo thodi aur aage jati hai, toh wo apne aage chal rhe scene ko dekh kar hairan reh jati hai.

Reet dekhti hai ki Pinki kisi ladke ki godh me baithi hai. Wo us ladke apna ek hath Pinki ke suit ke gale me dala hua hai, aur Pinki ke boobs ko masal rha tha. Aur dusra hath usne kameej ke andar dala hua hai. Uska hath hil rha tha, usko dekh kar saaf saaf samjh aa rha tha. Ki wo ladka Pinki ki choot ko masal rha tha.

Wo ladka Pinki ke garden par kiss kar rha tha. Jisse Pinki bahot garam ho rhi thi. Aur wo maje lete hue boli – Aahh aah Ranbir mujhe jane de ab bahot der ho gyi hai.

(Us ladke ka naam Ranbir tha, aur wo ladka sarpanch ka beta tha.)

Ranbir Pinki ke boobs maslta hua bola – Jaan abhi toh aayi hai tu, aur abhi jane ki jaldi kar rhi hai.

Pinki – Babu tujhe nhi pata mere sath Reet bhi aayi hui hai. Wo mujhe bahar khadi mera wait kar rhi hai. Agar usne andar aa kar ye sab dekh liya toh bahot bada panga pad jayega.

Ranbir – Koi panga nhi padega jaan.

Ye kehte hi Ranbir ne Pinki ke suite ke gale me se ek boobs bahar nikal liya.

Pinki – Haaye Ranbir ye tune kya kiya, ise kyo bahar nikal liya ?

Ranbir – Pinki meri jaan tere boobs kameej ke andar kam aur bahar jyada ache lagte hai.

Fir Ranbir Pinki ke nange boobs ko pakad leta hai.

Pinki – Aahhh aahh Ranbir please na karo mujhe der ho rhi hai.

Ranbir Pinki ka muh ghuma kar apni taraf kar leta hai, aur wo bola.

Ranbir – Jaan mere sath time spend karna tujhe acha nhi lagta kya tujhe ?

Pinki – Acha lagta hai, main toh apni puri life ek ek pal tere sath bitana chahti hoon.

Ranbir – Toh fir itni jaldi kyo kar rhi hai jaan. Ye keh kar Ranbir apne honth Pinki ke hontho ke sath laga deta hai. Fir wo jor jor se Pinki ke hontho ko chuste hue, uske boobs bhi masalne lag jata hai.

Ye sab dekh kar Reet pagal ho jati hai, aur wo Jyoti ki bato se pehle se hi garam hui hoti hai. Aur uper se wo Pinki ko is halat me dekh kar aur bhi garam ho jati hai. Ye sab dekh kar Reet ka ek hath apne aap uski kameej ke pale ke andar chala jata hai. Reet kamaad ke side me chup kar Pinki ko dekh rhi thi.

Pinki bade maje apne honth chuswa rhi thi. Ranbir apna hath niche Pinki ki salwar ke pass lata hai, aur ek jhatake se uska nada khinch kar khol deta hai. Pinki tabhi apne honth alag karke boli.

Pinki – Ranbir nhi please salwar nhi please.

Ranbir nhi rukta aur salwar ka nada khulte hi salwar dheeli ho jati hai. Ranbir apna ek hath andar dal deta hai. Jese Ranbir ka hath andar jata hai tabhi Pinki Ranbir ko kass kar pakad leati hai aur bolti hai.

Pinki – Ranbir please rehne do naa please.

Ranbir uske boobs masalte hue bola – Jaan kyo dar rhi hai tu, ye dekh iska kya haal ho rha hai.

Ranbir apni pant ki zip khol deta hai aur apna bada lamba kala lund bahar nikal leta hau. Aur Pinki lund dekh kar apna muh dusri taraf kar leati hai aur bolti hai.

Ranbir – Aaye haye please jaan ise andar kar lo, please mana karo naa.

Ranbir Pinki ka hath pakad apna lund par rkh deta hai aur bola – Jaan tere bina isne andar nhi jana, isko thoda sa hila pehle.

Pinki apne gore hatho me Ranbir ka lund pakad kar jor jor se hilane lag jati hai. Ranbir ko ab pura maja aa rha hota hai. Aur ye sab dekh kar Reet ka bura haal ho rha tha. Wo salwar ke uper se hi apni gili choot ko masalne lag jati hai. Ranbir bhi garami me aa kar Pinki salwar uske ghutno tak kar deta hai.

Aur jab Ranbir apne thande hath Pinki ke nange gore patto par lagta hai, toh Pinki puri kaamp jati hai aur wo Ranbir ko kass kar pakad leti hai. Pinki ki kale rang panty Reet ko dikh rhi thi. Ranbir ka hath ab Pinki ki panty ke uper jata hai, tabhi Pinki ka phone ring karne lag jata hai.

Jab Pinki apna phone dekhti hai toh whan dady calling likha aata hai. Pinki ek dam Ranbir ko apne se alag karti hai aur bolti hai.

Pinki – Haye rabaa mere papa ka phone aa gya hai.

Ye keh kar usne apni salwar uper kari aur jaldi se nada bandh leti hai. Ranbir Pinki ko piche se pakad leta hai, uska khada lund Pinki ke chuttar ke bich me fas jata hai.

Pinki – Aahh Ranbir please ab toh jane do, mere papa ka phone aa gya hai.

Phone fir se ring karne lag jata hai, is baar Pinki phone utha leti hai.

Balwinder – Beta ji khan ho, aapki mummy aapka wait kar rhi hai.

Pinki – Abhi aayi papa ji.

Balwinder – Wese tu hai khan beta ?

Pinki darte hue boli – Main apni friend ke ghar aayi hui thi.

Balwinder – Chal thik hai, jaldi aaja raat hone wali hai beta.

Pinki – Abhi aati hoon papa ji.

Ye keh kar Pinki phone cut kar deti hai, apne bahar nikale boobs ko kameej ke andar karke set karti hai. Lekin Ranbir garam hota hai, wo piche se Pinki ko apni bahon me bhar kar. Uske chuttaro par apna lund masal rha tha.

Pinki – Ranbir ab mujhe jane de, agar papa ko shak ho gya naa toh bahot bada panga pad jayega.

Ranbir – Jaan main kya karun mera lund nhi maa rha hai tujhe bhajene ke liye.

Pinki – Isko andar karo apne aap maan jayega ye.

Aur Pinki usse alag hokar jane lagti hai. Tabhi Ranbir Pinki ki baju pakad kar use ek dam apni aur khinchta hai aur apne honth uske hontho par kar jor se kiss karke bola.

Ranbir – I love you jaan.

Pinki bhi uske hontho ko kiss karti hai aur whan se bhag jati hai. Jate jate wo Ranbir ko piche mud kar ek smile kar deti hai aur bolti hai.

Pinki – I love you too meri jaan.

Reet Pinki ko aati dekh apni salwar ke andar se hath bahar nikal leati hai, aur vapis whani chali jati hai. Jahan Pinki ne use wait karne ke liye kha tha. Pinki ke aane par Reet usse jaan bhuj kar puchte hue boli.

Reet – Kya baat Pinki itni der khan lag gyi.

Pinki – Yaar wo main kafi andar tak chali gyi khet me.

Reet man me boli – Haan pata hai mujhe kitna andar gyi thi tu saali gasttood khin ki.

Fir wo dono baten karte hue ghar ki aur chali jati hai.
Reply

01-29-2021, 11:49 AM,
#32
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
Shaam ke 7 baje chuke the, aur ladies sangeet shuru karne ki puri tyari chal rhi thi. Sare aas pados aur rishtedaar ghar me aa chuke the. Sari aurten mast patola ban kar aa gyi thi. Isi bich Sukhjeet aur Reet dono apne room me makeup karke tyar ho rhi thi.

Un dono ke mote mote boobs kameej me fase hue the, aur piche se unke chuttaro ne unki kameej ka pala uper uthaya hua tha. Aur dono chuttaro ke bich unke balo se laga hua laal paranda, kabhi left wale chuttar se lagta toh kabhi right wale chuttar se lagta.

Niche patiala shahi reshmi salwar jisme un dono ki tange aur bhi mast lag rhi thi. Sukhjeet ne halka sa makeup kiya hua tha. Jise uske chehre ka noor aur bhi jyada badh chuka tha. Aaj Sukhjeet 28 saal ki jawan ladki se kam nhi lag rhi thi.

Jab Sukhjeet tyar ho rhi thi, toh Reet bathroom me naha rhi thi. Itne Pinki room me aa gyi, Pinki bhi kisi se kam nhi lag rhi thi. Usne aaj Pink color ka suit dala hua tha. Jisme uski jawani us par chad kar bol rhi thi. Pinki Sukhjeet ko dekh kar bolti hai.

Pinki – Haa chachi ji aap toh bahot sunder lag rhe ho.

Sukhjeet sharmate hue boli – Thank you beta ji, wese aap majak acha kar lete ho.

Pinki – Nhi chachi ji kasam se main majak nhi kar rhi. Aap sach me bahot ache lag rhe ho aaj.

Sukhjeet majak me boli – Acha ji aaj sare gaon walo ko pata lagna chahyie ki sheher se ladke ki chachi aayi hai.

Pinki – Sachi chachi ji aaj toh sare gaon me aapne dhamal macha dena hai.

Sukhjeet sharmate hue boli – Chal hatt pagal si.

Pinki – Acha wese mummy bula rhe hai, aapko unhe kuch kaam hai shayad aapse.

Sukhjeet – Thik hai main jati hoon.

Fir Sukhjeet chali jati hai. Reet bathroom me naha rhi thi. Reet ko pata tha ki Pinki uske room me hai. Fir achanak Pinki ka phone ring karne lagta hai. Phone Ranbir ka hota hai, aur room khali hone ke karan Pinki phone utha leti hai. Par use ye nhi pata tha ki bathroom me Reet naha rhi hai. Jo uski sari baten sun rhi thi.

Pinki – Hello.

Ranbir – Ki haal meri jaan ?

Pinki – Tere bina mera kya haal ho skata hai, ye tu khud soch skata hai.

Ranbir – Agar itna mushkil hai mere bina, toh shaam ko mujhe kyo chhod kar bhag gyi thi ?

Pinki – Jaan us time mere papa ka phone aa gya tha, uper se Reet bhi mere sath thi.

Ranbir – Acha acha ye wo ladki hai naa, jo aaj kal gaon me bahot meshhoor hai.

Pinki – Haan yaar mashhoor toh honi hi hai, agali sheher ki ladki hai ek dam sundar pataka.

Reet bathroom ke andar se ye sari baten sun rhi thi, ye sab baten sun kar wo sharama rhi hoti hai.

Ranbir – Mere dost Malik ko wo pasand aa gyi hai. Tu kar koi jugad jara.

Pinki – Shehar ki ladki hai, aise wo kisi ke hath nhi aayegi asani se.

Ranbir – Is bare me mujhe kuch nhi pata. Malik mere dost hai, aur tu uska jugad kar jese marji.

Pinki – Jaan main taraf se puri koshish karungi.

Ranbir – Thik hai, aur suno kya program hai aaj ka ?

Pinki – Kuch nhi bas tyar ho rhi hoon, ladies sangeet ke liye.

Ranbir – Tyar toh tu har time rehti hai, bas hath lagane ki der hai.

Pinki – Tum na ek number gandhe ho, har time bas aisi baten karte rehte ho.

Ranbir – Kya kar jaan agar ab mera bass chalta, toh main abhi aa jata teri marne ke liye.

Pinki – Acha ji agar tu mere ghar aa gya naa, toh mere bapu ne tujhe apna de dena hai samjha.

Ranbir – Haa haa koi baat nhi sambhal lunga main tere baap ko bhi.

Pinki – Jaan tum aa rhe ho aaj ladies sangeet me ?

Ranbir – Ek shart par aaunga.

Pinki – Kya ?

Ranbir – Agar tu Malik ki baat karti hai Reet ke sath ?

Pinki – Thik hai kara dungi, jaan tum khush raho bas.

Ranbir – Thik hai babu good bye, milte hai shaam ko.

Pinki – Muaaa bye.

Pinki baat karke room se bahar chali jati hai. Andar Reet sari baten sun chuki thi, aur wo sab kuch ache se samjh gyi thi. Ki Pinki uski kisi ke sath setting karwana chahti hai. Nahane ke baad Reet bahar aati hai. Aur tyar ho jati hai. Reet ne laal rang ka suit dala hua tha. Tight kameej jo sirf uske patta tak tha. Niche dhoti salwar aur Punjabi jutti.

Reet aise lag rhi thi, mano wo koi asmaan se aayi hui pari ho. Dusri side jab Sukhjeet bahar aayi toh sab ki najaren Sukhjeet par jam gyi. Sare mard toh Sukhjeet ke ashiq ho gye the. Aur toh aur gaon ki aurten bhi apni ankhen fad fad kar Sukhjeet ko dekh kar keh rhi thi, ki ye itni khoobsurat aurat bhala khan se aa gyi hai.

Uper Bittu aur Meeta baithe daru pe rhe the, jese hi Meeta ki najar Sukhjeet par padi toh wo dono apas me baten karne lag gye.

Meeta – Aaaye haaye dekh bhai saali kya mast randi lag rhi hai. Bhai is saali ka koi jugad kar ab mujhse aur iski khoobsurti nhi dekhi jati. Dekh saali gasti kese matak matak kar chal rhi hai.

Bittu – Meete abhi apni garami bacha kar rkh, jab iski choot marega toh tu us time thanda ho jayega. Isliye is garami ko bacha kar rkh abhi.

Meeta – Bhai main kya karun, saali ke chuttar dekha jara, chuttar dekhte hi mera lund khada ho jata hai.

Bittu – Koi nhi yaar aaj tera bhi jugad karwata hoon main, tu fikar na kar mere bhai.

To be continued…
Reply
01-29-2021, 11:49 AM,
#33
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
Sukhjeet ki ankh bahar baithe Bittu ke sath lad jati hai, aur Sukhjeet sexy smile dekar apni ankhen niche kar leati hai. Fir wo apne dono chuttar Bittu ke aage jor se matkate hue aage chali jati hai. Sukhjeet ki ye harket dekh kar Meeta apna lund masalte hue bola.

Meeta – Bhai ye mast maal toh thukane ke liye ek dam tyar baitha hai. Isko dekh kar toh lagta hai, ye lund lene ke liye tadap rha hai. Mera man toh kar rha hai, abhi ise ghodi bana kar iski gand me apna lund ghusa doon.

Bittu – Nhi oye Meete itni jalad bazi na kar. Bade kehte hai sabar ka faal mitha hota hai. Iska jugad toh main aaj raat ko hi lagunga.

Meeta – Thik hai bhai tu isko chod aur mujhe tu Charan jeet ki choot dila.

Bittu – Koi baat teri Charan jeet ka bhi kuch karte hai.

Itne me Reet bhi tyar ho kar bahar aa jati hai. Jab Reet bahar hai toh sab ki najaren us par hoti hai. Wo bhi apni maa ki tarah ek asman se aayi hui pari jesi lag rhi thi.

Uske mote aur aage se nokile boobs patli si kameej me khade hote hai. Uski sexy gand bahot achi lag rhi thi. Uper se uske balo se laga hua laal rang ka paranda uske dono chuttro par idhar udhar lag rha tha.

Kuch hi der me ladies sangeet shuru ho jata hai. Aur fir sab apne apni jagah le lete hai. Harpal Balwinder Bittu, Meeta aur Sarpanch ek side baith kar daru pee rhe the. Bahar aagan me DJ chal rha tha. Raat ke 8 baje chuke the, aur tabhi Pinki ke mobile par ek message aata hai.

Ranbir – Jaan khan ho ?

Pinki reply karti hai – Main bahar aagan me hoon.

Ranbir – Ok main aa gya, mere sath mera dost Malik bhi hai.

Pinki – Ok welcome.

Dusri side Harpal aur uske sath baithe daru pee rhe the, aur daru pee pee kar full ho rkhe the.

Balwinder – Bhai Bittu aaj toh sharab ka nasha hi nhi ho rha hai/

Bittu – Bhai ji nasha kese hoga, aaj aapka jism ek jism ki mang kar rha hai.

Balwinder – Haan bhai aaj lagta hai, mast jism ka jugaad karna hi padega.

Meeta – Bhai main ek randi ko janta hoon, saali bahot mast hai. 1000 per shot leti hai saali, itni mast randi hai.

Balwinder -Oye Meete sale ek shot se kya banega jatt ka, jatt ko sari raat ke liye chahyie.

Harpal bhi ek peg mar kar bola – Shi kaha bhai ji aapne, aaj toh saari raat leni hai fudi.

Balwinder tabhi dekhta hai, ki daru ke sath meet khatam ho gya hai. Wo tabhi bola ki Charan jeet ko bulayo ki meet aur le kar aaye. Charan jeet ka naam sunte hi Meete ke kaan khade ho jate hai, aur tabhi wo bola.

Meeta – Main le aana bhai ji, bhabhi ye kaam karti achi nhi lagegi.

Balwinder sir hila deta hai, aur Meeta Charan jeet ke pass chala jata hai. Charan jeet Sukhjeet ke sath kitchen me hoti hai. Meeta kitchen me hi chala jata hai, aur wo whan Charan jeet ko sir se pario tak ache se dekhta hai aur bolta hai.

Meeta – Sat shir akal bhabhi ji.

Charan jeet – Sat shri akal bhai ji.

Meeta – Ohh Meet khatam ho gya tha.

Charan jeet – Haan ji ye patiala pada hai, usme se nikal lo jitna chahyie.

Meeta – Bhabhi aap nikal kar do, kabhi apne dewer khud bhi khila diya karo.

Charan jeet – Nhi dewar apni bhabhi ka dhayan rkhate hai, ya bhabhi dewar ka.

Meeta – Par bhabhi aapne kabhi is gareeb ko moka hi nhi diya apni sewa karne ka.

Charan jeet apni ankhen niche kar ke boli – Pagal khin ka.

Ye keh kar Charanjeet Meete ki plate me meet dal deti hai, aur Meeta whan se chala jata hai. Sukhjeet Meet ki niyat ko jaan jati hai aur Shukhjeet Charanjeet ko boli.

Sukhjeet – Behen ji ye banda toh mujhe kuch jyada hi tez lagta hai mujhe.

Charanjeet haste hue boli – Behen ji yahan toh sare mard hi aise hi hai. Aur ye Meeta toh sala jaman se hi harami hai. Apne gaon ki har aurat aur ladki par iski najar rehti hai.

Sukhjeet – Dekh ke behen ji khin ye kuch hi na le.

Charanjeet – Kuch bas me ho toh wo kuch kare. Sala sara din toh sharab pita rehta hai, uper se isse kisi ne shadi nhi kari.

Charanjeet ki baat sun kar Sukhjeet samj jati hai, ki Charanjeet ka bhi choot marwane ka dil karta hai.

Itne me ek aurat aati aur wo Charanjeet se boli – Aayo behen ji gidha shuru karte hai.

Charanjeet Sukhjeet ki taraf dekhti hai aur boli – Aayo behen chalte hai aur jam kar gidha dance karte hai.

Fir Charanjeet aur Sukhjeet dono bahar aggan me Dj song ke uper gidha dance shuru karte hai. Sukhjeet apni kamar hila hila kar jor se thumake laga rhi thi. Itne use dekhne walo ki bheed lag jati hai. Harpal Balwinder Sarpanch aur Meeta aur Bittu whain baithe daru pee rhe the aur Sukhjeet aur Charanjeet ka gidha dance dekh rhe the.

To be continued…
Reply
01-29-2021, 11:50 AM,
#34
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
Meeta bade dhayan se Charanjeet ko dekh rha tha, aur sab se chori chori. Apni dhoti me apna hath dal kar apna lund masal rha tha. Itne me rishtedar Harpal aur Balwinder ko khinch kar nachane ke liye le kar jate hai, aur uske sath Bittu aur Meeta bhi sath me ghus jate hai.

Ab whan kafi jyada bheed ho jati hai. Dj ke aage Sukhjeet pehle se hi apni gand matka matka kar nach rhi thi. Jab wo whan Bittu ko dekhti hai, toh uske aur jyada josh aa jata hai. Bittu Harpal ke piche nach rha tha, aur Sukhjeet Harpal ke samne nach rhi thi.

Par Sukhjeet ke thumke aur uski ankho ke ishare sirf Bittu ke liye the. Itne Pinki bhi nachte hue Harpal ke pass aa jati hai. Harpal ka sara dhayan Pinki ki taraf chala jata hai, aur fir wo dono side me chale jate hai. Ab Sukhjeet Bittu ke samne aa jati hai.

Sukhjeet apni sexy najaro se dekhte hue, Bittu ke samne apni gand ko hilati hai. Fir wo Bittu ki taraf apni gand kar deti hai, fir wo bheed ka fyada utha kar jan bhuj kar nachte hue piche jati hai. Aur apne dono chuttar Bittu ke lund par marti hai.

Sukhjeet ke chuttar jese hi Bittu ke lund par lagte hai, tabhi Bittu ka lund khada ho jata hai. Bittu se ab aur bardash nhi hua, aur wo nachte hue Sukhjeet ke ek dam pass chala jata hai. Aur moka dekh kar apna ek hath uske pale ke andar dal kar uske chuttar ko masal deta hai. Dance karte karte hi Sukhjeet ki ankhen band ho jati hai.

Dusri side Meeta Charanjeet ke aage piche nach rha tha. Meeta moka ka fyada utha kar baar baar Charanjeet ke chuttar par hath laga rha tha. Par Charanjeet dance me itni mast thi, ki use is baat ka pata tak nhi chala.

Harpal ko sharab ka pura nasha hua tha, aur wo Pinki ke sath dance kar rha tha. Nashe me Harpal ko Pinki bahot hi sexy lag rhi thi. Nachte hue Pinki ke dono boobs jor jor se hil rhe the. Jis par Harpal ki najar baar baar ja rhi thi. Harpal soch rha tha, ki ye wo hi boobs hai.

Jo mere chahti par lage the, jab ye mujhse mili thi. Harpal ke man me Pinki ke liye galat baten aa rhi thi. Udhar Bittu Sukhjeet ko nachate hue apne hath uske jism par fer kar use garam kar deta hai. Fir Bittu Sukhjeet ke kaan me kuch bolta hai.

Bittu – Bhabhi yahan se najaren bacha kar sidha mere ghar aa ja, baki ka gidha whin par karegen.

Ye keh kar Bittu whan se chala jata hai. Sukhjeet ab puri garam ho chuki thi, uski choot ab sirf aur sirf lund mang rhi thi. Wo idhar udhar dekhti hai, toh sare dance karne me mast hote hai. Fir Sukhjeet sab se najaren bacha kar whan se bahar aa jati hai.

Sukhjeet gate se bahar jane lagti hai, ki tabhi ek aurat jo use janti thi wo use mil jati hai aur kheti hai – Kya hua behen khan ja rhe ho ?

Sukhjeet – Ohh behen ji bathroom aaya hai, jor se bas wo hi karne ja rhi hoon.

Aurat – Thik hai behen ji.

Fir wo chali jati hai, aur Sukhjeet gate se bahar aa jati hai. Puri gali shadi wale ghar me aayi hui thi. Isliye sara rasta ek dam sunsaan ho rkha tha. Bittu ka ghar pass me hi tha. Bittu Sukhjeet ko dekh kar kafi khush ho jata hai, aur use ghar ke andar aane ka ishara karta hai.

Bittu ke ghar me koi nhi hota, kyoki sare ladies sangeet me gye hue the. Sukhjeet dabe pairo se ghar ke andar chali jati hai. Sukhjeet ke andar aate hi Bittu andar se kundi laga deta hai. Aur wo whin diwar se Sukhjeet ko laga kar uske hontho ko chusne lag jata hai.

Sukhjeet bhi puri garam hoti hai, isliye wo bhi Bittu ka pura sath de rhi thi. Bittu Sukhjeet ke hontho ko chuste hue, Sukhjeet ki chuni ko khinc kar niche jameen par gira deta hai.

Fir Bittu Sukhjeet ke boobs ko masalne lag jata hai aur sath hi bola.

Bittu – Bhabhi aaj toh tu mere uper daru ke nashe ki tarah chadi hui hai. Kasam se aaj toh main teri cheekhan nikal dunga.

Sukhjeet apne boobs masalwate hue boli – Aaye haye mere jalam ashiq abhi tak pichli baar ke jakham nhi bhare hai dheere karyio aahhh.

Bittu boobs ko jor se masal kar bola – Bhabhi tu wo nhi hai, jiski aram se marne me maja hai. Tu toh wo bala hai, jiski jitni kass kar mare utna hi maja aata hai.

Sukhjeet – Aahhh aahhh.

Fir Bittu apne hath Sukhjeet ke boobs se hatta kar uske dono chuttar par laga deta hai. Aur uske dono chuttar ko jor jor se masalne lag jata hai.

Sukhjeet – Aahh aahh sii bhai ji aram se karo.

Bittu – Kya aram se behen chod, saali dance karte hue toh badi jor jor se hila rhi thi mere aur ab kya hua. Bhabhi sach me teri ye moti gand badi mast hai. Jab tu mujhe dikha kar apni gand hila hila kar nach rhi thi. Kasam se ek ajeeb sa nasha ho rha tha mere uper. Main us time apne uper kese control kar rha tha, ye sirf mujhe pata hai. Aaj toh main teri chus chus kar marunga.

Ye sun kar Sukhjeet garam ho jati hai. Aur fir Sukhjeet Bittu ko kass kar apni bahon me bhar ke bolti hai.

Sukhjeet – Aahh Bittu aaj apni bhabhi ache se kass kar pakad le naa.

Bittu apne dono hath Sukhjeet ke dono chuttaro ke bich ki leekar me le ja kar bola – Aaj toh tujhe nhi chhodta main bhabhi. Teri aaj ki raat rageen kar dunga main. Tere ye matakate hue chuttaro ke bina ab mujhse aur nhi rha jata. Aaj subah se hi tere mote mote chuttaro ne mujhe apna diwana banaya hua hai.

Sukhjeet – Ab toh tere hath me mere dono chuttar hai, ab karle jo tune inke sath karna hai.

Fir Bittu Sukhjeet ko sidha apne bedroom me le jata hai. Whan wo Sukhjeet ki kameej ka palla utha kar uski kameej ko utar deta hai. Fir Bittu thoda niche ho kar Sukhjeet ke dono boobs ko apne hath me le kar chusne lag jata hai. Sukhjeet ko maja aane lagta hai, aur uske muh se aahh aahh ki awajen aane lagti hai.

Bittu Sukhjeet ke boobs chuste Sukhjeet ke boobs ke niples ko apne danto se kaat deta hai. Tabhi Sukhjeet dard se tadap kar boli.

Sukhjeet – Ahhh aahh aaye haaye aram kanjar.

Par Bittu Sukhjeet ki ek nhi sunta aur baar bara Sukhjeet ke niples ko apne danto se katta rheta hai. Jisse Sukhjeet aur bhi pagal ho jati hai. Sukhjeet ki choot niche buri tarah se pani nikalne lag jata hai.

Fir Bittu Sukhjeet ke boobs chuste hue hi apne hath niche le kar jata hai. Aur fir Bittu apne dono hath niche le kar jata hai. Aur fir Sukhjeet ki salwar aur panty ek sath wo niche kar deta hai.

Sukhjeet ke muh se aahh nikalti hai, aur Bittu se lipat jati hai. Bittu ka lund pura khada ho jata hai. Bittu apne dono hath Sukhjeet ke chuttaro par rkhta hai, aur jor se use uper utha kar bed par sidha lamba leata deta hai.

Fir Bittu bed ke kinare khada ho kar Sukhjeet ki dono tange uper utha kar apne sholder par rkh leta hai. Bittu ne ek hath se Sukhjeet ke patto ko pakada hota hai, aur dusre sath ne usne apni dhoti ko khol deta hai.

Fir wo apna 9 inch lamba lund bahar nikal deta hai. Sukhjeet Bittu ka itna lamba lund dekh kar hairan reh jati hai. Fir Bittu Sukhjeet ki choot par apna lund masalne lag jata hai. Aur dheere dheere dhaka mar kar apna thoda sa lund Sukhjeet ki choot me dal deta hai.

Sukhjeet – Aaah aaye hoye ab dal bhi de andar apna lund, andar aag lagi hui hai mere.

Par Bittu Sukhjeet ko tadapana chahta tha. Kyoki isme use bahot maja aa rha tha. Fir Bittu apna lund jor se ragad kar bolta hai.

Bittu – Bahot aag lagi hui hai bhabhi tujhe ?

Fir Bittu ke kehte hi ek jordar dhake se apna pura lund Sukhjeet ki choot me dal deta hai, wo thoda sa chila kar chadar ko kass kar pakad leti hai.

Sukhjeet andar se apni choot ko kass leti hai, aur Bittu apna lund bahar nikal kar ek aur jordar dhakar marta hai. Is baar Bittu ka lund Sukhjeet ki choot ke bachedani par lagta hai.

Sukhjeet – Aahh aahah meri bachedani aram se kar Bittu.

Par Bittu us tie pure josh me aaya hua tha. Isliye usne apna lund Sukhjeet ki choot me dala aur jor jor se dhake marne shuru kar diye. Sukhjeet ki ankhen ab masti me band hone lagti hai. Karib 20 minute ki jordar chudai ke baad Bittu apna lund ka sara pani Sukhjeet ki choot me hi dal deta hai.

Fir wo dono apne apne kapade dalte hai. Fir Bittu bahar nikal kar mohal dekhta hai. Aur moka dekh kar wo Sukhjeet ko apne ghar se nikal deta hai. Sukhjeet Bittu ke ghar se nikal kar sidha ladies sangeet me ja kar fir se nachane lag jati hai.

Thodi der baad Bittu bhi whan aa jata hai, aur baith kar daru peene lag jata hai.

To be continued…
Reply
01-29-2021, 11:50 AM,
#35
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
बाद रिंकू रूबी को लेकर आता है, और उसे कार में बैठा देता है।
रूबी कार में बैठते ही बोलती है- “हैपी बर्थ-डे दीप..."
दीप झट से रिंकू का प्लान समझ जाता है और बोला- “थैक्स रूबी..”
फिर दीप कार को कालेज से बाहर ले जाता है। कार में बियर पहले से ही पड़ी हुई थी। इसलिए रिंकू सबको एक
एक बियर पकड़ा देता है। रूबी पहले तो बियर लेने से मना कर रही थी। पर जब रिंकू ने उस कहा की।
रिंकू- “देख यार दीप का आज बर्थ-डे है, कहीं उसे आज के दिन बुरा ना लग जाए। इसलिए तू ले ले प्लीज...
ज्यादा नखरे मत कर, मुझे पता है की तू बियर पीती है...”
रूबी रिंकू की ये बात सुनकर बियर पकड़ लेती है। रूबी बियर पीकर नशे में आ जाती है। इतने में दीप कार को एक गाँव में ले आता है। जहाँ उसके बाप की बहुत सारी जमीन थी। जमीन के बीचोबीच एक मोटर वाला रूम था। जहाँ पर पानी की मोटर लगी हुई थी। दूर-दूर तक सिर्फ जमीन ही जमीन थी, वहां कोई आता जाता नहीं था।
रिंकू रूबी को कार में से निकालता है, रूबी नशे में होने की वजह से लड़खड़ाती हुई चलती है। रिंकू उसे मोटर
वाले रूम में पड़े मंजे पर लेटा दिया।
तभी रूबी बोली- “आई लोव यू रिंकू। मैं तुझसे बहुत प्यार करती हूँ। मैं तेरे बिना नहीं रह सकती, आई लोव यू
सो मच..."
फिर पीछे से सोनू आता है, और रिंकू को साइड में करके वो उसके ऊपर चढ़ जाता है। उसके होंठों पर अपने होंठ रखकर उसके होंठों को जोर-जोर से चूसना शुरू कर देता है। नशे में होने के कारण रूबी को लगता है की उसे रिंकू किस कर रहा है। इसलिए वो भी किसिंग में पूरा साथ दे रही होती है। पर उसे नहीं पता था, की उसका स्वाद तो सोनू ले रहा था।
रिंकू बाहर चला जाता है, बाहर दीप कार के पास खड़ा हुआ था। उन तीनों ने बारी-बारी से रूबी को चोदने के प्लान बनाया हुआ था। अंदर सोनू ने किस करते हुए ही रूबी की कमीज उतार दिया। सोनू देखता है की रूबी ने नीचे ब्लैक कलर की ब्रा डाली हई थी। रूबी के गोरे जिश्म पर ब्लैक ब्रा बहत अच्छी लग रही थी।
सोनू ने उसकी ब्रा को भी उतार दिया, ब्रा नीचे आते ही सोनू के सामने रूबी की चूचियों के ब्लैक कलर के निपल
आ जाते हैं। जिसे देखकर उससे रहा नहीं जाता, और वो झट से उसके निपलों को अपने मुँह में लेकर चूसने लगता है।
रूबी नशे में ही बोलती है- “आहह... आहह... आईई मम्मी आह्ह..."
Reply
01-29-2021, 11:50 AM,
#36
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
सोनू निपलों को चूसते हुए उसे और पागल करने के लिए, अपने दांतों से उसके निपलों को काटने लगता है। जिससे रूबी को बहुत ज्यादा दर्द होता है, और वो दर्द से तड़पती हुई बोलती है।
रूबी- “हाए राम मर गई, मम्मी आहह... आहह... मर गई मैं..”
सोनू रूबी की सलवार का नाड़ा खोल देता है, और उसकी सलवार के अंदर हाथ डालते हुए, उसकी पैंटी में अपना हाथ डाल लिया। उसका हाथ सीधा रूबी की चूत पर आ जाता है। सोनू को महसूस होता है की रूबी की पूरी चूत उसके पानी से भीगी हुई थी।
तभी वो पागल सा हो जाता है, और अपनी दो उंगलियां उसकी चूत में डाल देता है। उसकी दोनों उंगलियां पानी से भीग जाती हैं। फिर वो उंगलियां बाहर निकालकर सीधा अपने मुँह में डाल देता है। रूबी की चूत का स्वाद उसे पागल बना देता है। चूत का स्वाद पाते ही सोनू का लण्ड एकदम खड़ा हो जाता है। अब सोनू से और नहीं रुका जाता, उसने अपना लण्ड बाहर निकाला और रूबी के मुँह के आगे कर दिया।
रूबी ने सोनू का लण्ड पकड़ लिया, जो काफी गरम था। फिर रूबी अपने मुँह के आगे उसका लण्ड कर लेती है।
ये देखकर सोनू समझ जाता है, की रूबी एक नंबर की रंडी है। फिर रूबी सोनू का लण्ड अपने मुँह में लेकर जोर जोर से चूसने लगती है। रूबी बहुत ही मस्त तरीके से सोनू का लण्ड चूस रही थी। इससे सोनू और उसका लण्ड एक दूसरी दुनियां में चले जाते हैं। उसे जो मजा आता है, वो मजा उसे शायद कभी नहीं आया था।
सोनू अब पूरा मस्त हो जाता है। तभी सोनू ने अपना लण्ड बाहर निकाला और रूबी की सलवार और पैंटी निकालकर दूर साइड में फेंक दी। फिर सोनू ने रूबी की दोनों टाँगें उठाई और अपना लण्ड उसकी चूत में डालकर
एक जोरदार धक्का मारा। अभी लण्ड थोड़ा सा ही अंदर गया था की रूबी चिल्लाते हुए बोली।
रूबी- “हाए मर गई मैं.. मेरी जान निकल गई। ओ हरी मुझे छोड़ दे, मर जाऊँगी मैं। अपना लौड़ा निकाल मेरी चूत में से... हाए मर गई...”
लेकिन सोनू ने उसकी एक बात नहीं सुनी और वो जोर-जोर से रूबी की चूत मारने लगा। रूबी की आवाज बाहर खड़े दीप और रिंकू को साफ-साफ सुनाई दे रही थी। रिंकू रूबी की चिल्लाने की आवाज सुनकर रूम के दरवाजे के पास खड़ा होकर बोला।
रिंकू- “बहनचोद साले मार दियो इसको?”
लेकिन सोनू पूरे नशे में रूबी को चोदने में लगा हुआ था। बाहर दीप और रिंकू सुलफा पी रही थे, और आपस में बातें कर रहे थे।
दीप- “ओये तूने रीत को देखा है?"
रिंकू- हाँ भाई साली एक नंबर की माल है। मैं उस दिन सोनू के घर गया था, कसम से क्या लग रही थी साली।

दीप- हाँ भाई, तू ठीक कह रहा है। उसकी चूचियां देखी तूने, कितनी बड़ी-बड़ी हो गई हैं। उस दिन मैंने उसे मार्केट में देखा, तो साली ने मेरी तो जान ही निकल दी थी। साली अपनी गाण्ड को इतने मस्त तरीके से मटका मटकाकर चल रही थी की पूछो मत।
रिंकू- सच में भाई, अगर मैं सोनू की जगह होता तो मैं रोज रीत की चूत मार-मारकर उसकी चूत को लाल कर
देता।
दीप- “हाए... सच में भाई उसकी चूत भी उस जैसी कोमल गुलाबी सी होगी। सच में बहुत मजा आएगा। उसकी कुँवारी चूत की सील तोड़ने में..” और कहते टाइम दीप अपने लण्ड को पैंट के बाहर से ही मसल रहा था।
रिंकू- पर भाई एक बात ये भी है, की वो अभी तक किसी के हाथ में नहीं आई।
Reply
01-29-2021, 11:50 AM,
#37
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
जवानी अपनी आग दिखाती है, तो लड़की खुद उसे शांत करने के लिए लण्ड देखती घूमती है। देखते हैं कितने दिन अकेले रहती है, साली एक ना एक दिन तो आएगी हमारे नीचे।
रिंकू- हाँ भाई तू एकदम सही कह रहा है।
अंदर इतनी देर में सोनू अपने लण्ड का सारा पानी रूबी के मुँह में भर देता है। दीप और रिंकू अपनी बातों को बीच में छोड़ देते है। फिर दीप अंदर जाकर रूबी की चूत मारता है, और उसके बाद रिंकू उसकी चूत मारता है।
थोड़ी देर बाद वो रूबी को कपड़े पहनाते हैं, और उसको नींबू चटवा कर उसका सारा नशा उतरवा देते है। कुछ ही देर में रूबी को होश आ जाता है। रूबी को महसूस होता है की उसकी चूचियां और उसकी चूत के साथ जरूर किसी ने कुछ किया है।
रूबी जब रिंकू से ये सब पूछती है, तो रिंकू उसे सब कुछ सच-सच बता देता है। रूबी का मन शांत हो जाता है,
और फिर वो चारों वापिस कालेज में चले जाते हैं।
दूसरी तरफ रीत के स्कूल में बिजनेस स्टडी का पीरियड चल रहा था, जो बहुत बोरिंग होता था। क्लास के सारे बच्चे सोए हुए थे। सिर्फ रीत ही पढ़ाकू बच्चों की तरह ध्यान से समझ रही थी। क्लास में बेंच की तीन कतारें होती हैं, जिसमें से रीत तीसरी लाइन में ज्योति के साथ बैठी हुई थी। उसके पीछे ही हरी और उसका दोस्त बैठा हुआ था, जो सुबह बाइक पर उसके साथ था। उसका नाम परम होता है, वो रीत के साथ उसकी क्लास में ही
पढ़ता था। दिखने परम ठीक ठाक होता है।
ज्योति बेंच के अंदर की तरफ बैठी होती है। रीत बाहर की तरफ में बैठी होती है। हरी भी अंदर की तरफ में बैठा होता सै और परम भी बाहर की तरफ बैठा होता है। क्लास में उस टाइम पूरी सुस्ती फैली हुई थी। कुछ स्टूडेंट्स तो सोए हुए थे, और कुछ मोबाइल में गेम खेल रहे थे।
टीचर लगातार बोल रहा था, उसे कोई लेना देना नहीं था की उसकी बात को कोई सुने या ना सुने।

रीत टीचर की बातें बड़े ध्यान से सुन रही थी। लेकिन ज्योति बेंच पर अपना सिर रखकर सोई हुई थी। तभी अचानक रीत की नजर नीचे पड़ती है, और वो देखती है की ज्योति की स्कर्ट उसके चूतड़ों तक ऊपर उठी होती है, और उसके नंगे चूतड़ों पर एक हाथ चल रहा था। ये सब देखकर रीत का स्टडी से ध्यान हट जाता है। पहले
तो वो स्टडी की तरफ अपना ध्यान फिर से लगाने की कोशिश करती है। पर उसकी नजरें बार-बार ज्योति के चूतड़ों पर जाकर रुक रही थी।
हरी लगातार ज्योति के चूतड़ों को मसल रहा था। रीत ज्योति को देखकर हैरान हो रही थी की वो हरी को कुछ भी नहीं कह रही थी। फिर हरी का हाथ धीरे-धीरे ज्योति की चूत की तरफ चलने लगा था। ज्योति भी अब पूरी गरम हो जाती है।
Reply
01-29-2021, 11:50 AM,
#38
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
रीत की आँखें उसके ऊपर ही जमी हुई थीं, तभी उसने देखा की ज्योति की पैंटी उसकी स्कर्ट के बाहर आ रही है। मतलब की ज्योति ने अब अपनी पैंटी उतार दी थी। ज्योति ने अपनी दोनों टाँगें खोल ली थी, और उसके मुंह से आss आss की सिसकारियां भी निकल रही थीं।
रीत भी ये सब देखकर एकदम गरम सी हो जाती है। अब वो जोर-जोर से सांसें लेने लगती है। जिस वजह से उसकी मोटी-मोटी चूचियां ऊपर-नीचे होने लगती है। रीत अपना ध्यान इधर-उधर करने की कोशिश कर रही थी, पर उसका ध्यान ज्योति की स्कर्ट से कहीं और जाने का नाम नहीं ले रहा था।
उधर हरी लगातार ज्योति की चूत में अपनी उंगलियां डालकर अंदर-बाहर कर रहा था। ज्योति पूरी गरम हो रही
थी, उसके मुंह से सिसकारियां निकल रही थी। पर वो अपने होंठों को अपने दांतों में दबाकर अपनी आवाज बाहर आने से रोक रही थी।
रीत समझ रही थी, की ज्योति की स्कर्ट के अंदर क्या चल रहा है?
ज्योति ने तभी अचानक हरी का हाथ पकड़ा और अपनी चूत में अच्छे से दबा लिया। फिर उसने अपनी दोनों टांगों को कस लिया और अपने दोनों हाथों से बैग को कसकर पकड़ लिया। अब वो अपनी गाण्ड तक जोर लगाकर एकदम जम सी गई थी। करीब 30 सेकेंड बाद पूरी क्लास में एक अजीब सी खुश्बू फैल गई। और ज्योति एकदम रिलैक्स हो गई।
रीत झट से समझ गई की ज्योति की चूत का पानी अब निकल गया है। पर अब रीत की आग भी बहुत तेज हो जाती है। तभी रीत को महसूस हुआ की उसकी एक चूची को किसी ने पकड़ लिया है। उसका चेहरा एकदम लाल हो जाता है, और उसके जिश्म में एक अजीब सा करेंट चल रहा था। जिस वजह से उसके अंदर कुछ अजीब सा होने लगा था। फिर रीत ने पीछे मुड़कर देखा तो वो और कोई नहीं बल्कि परम था, जो उसे मुश्कुरा कर देख रहा था।
रीत को उसे देखते ही गुस्सा आ गया और उसने गुस्से में उसका हाथ पकड़ा और जोर से उसका हाथ पटक के मारा और अपने मन में बोली- "इस कुत्ते की हिम्मत कैसे हुई मुझे छूने की?” फिर रीत उठकर आगे वाले बेंच पर बैट जाती है, और आगे के सारे पीरियड रीत आगे ही बैठी रहती है।

छुट्टी के बाद जब रीत अपनी अक्टिवा लेने के लिए पार्किंग में जाती है। तब वो देखती है की परम उसकी
अक्टिवा पर बैठा होता है। ज्योति भी रीत के साथ होती है। परम को देखकर रीत कहती है।
रीत- “आज तो इसकी खैर नहीं अब..."
ज्योति- क्यों क्या हुआ इसने क्या कर दिया?
रीत- “वो तो तुझे मैं बाद में बता दूँगी, पर अभी तो मुझे इसकी क्लास लगाने दे...” रीत परम के पास जाकर बोली- “मेरी अक्टिवा से हट अभी के अभी..”
परम-रीत प्लीज बात
रीत- मैंने तेरी कोई बात नहीं सुननी। अब साइड हो जा वर्ना तेरी खैर नहीं याद रखियो।
परम- आई आम सारी रीत, पर मेरी बात तो सुन ले, मैं तुझसे दोस्ती करना चाहता हूँ।
रीत- दोस्ती वो भी तेरे साथ? जाकर पहले अपनी शकल देख एक बार। दफा हो जा। मैंने तेरे साथ कोई दोस्ती नहीं करनी, और एक बात... आज के बाद मेरे आस-पास भी नजर आया ना तो अपनी हालत का खुद ही जिम्मेदार होगा। समझा मेरी बात चल अब साइड हो।
परम ये बात सुनकर उदास हो जाता है, और उसका रास्ता छोड़ देता है।
रीत के लिए ये कोई नई बात नहीं थी, क्योंकी उसके पास रोज कोई ना कोई लड़का अपना आफर लेकर आता है। पर आज जो उसके साथ क्लास में हुआ, वो सब उसके लिए एक-एक नया अनुभव था।
फिर रीत अक्टिवा पर अपने मोटे-मोटे चूतर रखकर बैठ जाती है। ज्योति भी उसके पीछे उछलकर बैठ जाती है। उसके नंगे चूतड़ फिर से दिखने लगते हैं। फिर दोनों घर की तरफ निकल जाती हैं, रास्ते में ज्योति रीत से बातें
करनी शुरू कर देती है।
Reply
01-29-2021, 11:50 AM,
#39
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
ज्योति- तुझे परम पर इतना गुस्सा नहीं करना चाहिये था रीत। उसने तुझे प्रपोज ही किया था, तेरा रेप थोड़े किया था। जो तू उस बेचारे पर इतना गुस्सा कर रही थी।

रीत- ज्योति. तझे नहीं पता उसने मर साथ
पता उसने मेरे साथ आज क्या किया है?

ज्योति- अच्छा बता क्या किया है उसने तेरे साथ?

रीत- जब तू क्लास में हरी के साथ लगी हुई थी, तब उसने मेरे साथ छेड़खानी करी थी।
\
ज्योति- हेलो, तुझे कैसे पता चला की मैं हरी के साथ लगी हुई हूँ। तू तो बहुत ध्यान से टीचर को सुन रही थी।

रीत- मैं ध्यान से ही सुन रही थी, पर मुझे तेरी आवाजों ने डिस्टर्ब कर दिया था।

ज्योति- क्या मैं आवाजें निकल रही थी?

रीत- क्यों तुझे नहीं पता की तू क्या कर रही थी?

ज्योति रीत को अपनी बाहों में भर लेती है और थोड़े ठरकी अंदाज में कहती है- "रीत, जब मेरी चूत में हरी की दो उंगलियां अंदर तक जाती है तो कितना मजा आता है, मैं तुझे बता नहीं सकती। सच कहूँ तो उस टाइम मैं भूल गई थी की कहां हूँ, क्या कर रही हूँ..."
*****
*****
रीत ज्योति की बातों से अब फिर से गरम होने लगती है।

ज्योति- अच्छा अब तू बता की परम ने तेरे साथ क्या किया था?

रीत- यार जब तुम दोनों लगे हुए थे, तब उसने मेरी बायीं चूची पकड़कर मसल दिया।

ज्योति- "हाए मेरी जान... फिर बता ना कितना मजा आया अपना चूचियां दबवा कर?"

रीत- शटप ज्योति, तुझे हर टाइम ये ही सूझता रहता है।

ज्योति- "रीत तुझे नहीं पता लड़के चूचियां चूसने के लिए पागल हुए रहते हैं। ऊपर से तेरी जैसी कच्ची कुंवारी की बड़ी-बड़ी चूचियां देखकर लड़के मरने को तैयार हो जाते हैं। कसम से कह रही हूँ, अगर तेरे जैसी चूचियां मेरी होते ना... तो अब तक हरी ने मेरी चूचियां चूसकर तेरी चूचियों से डबल कर देने थे...”
ज्योति की बेशर्म बातें सुनकर रीत धीरे-धीरे गरम होने लगी थी। उसके अंदर की आग ज्योति की बातों से अब
और भी तेज हो रही थी।

रीत- क्या चूचियां चूसने से बड़ी हो जाती हैं?

ज्योति- “हाँ मेरी जान, चूचियों को जितना कोई मसले या उसे जितना चूसे। वो उतने ही बड़ी हो जाती हैं। अच्छा वैसे क्या बात मेडम, आज बड़ी इंटेरेस्ट से मेरी बातों को सुन और समझ रही है। लगता है मेडम को चूचियां दबवाने में मजा आ गया है..."
Reply

01-29-2021, 11:50 AM,
#40
RE: Desi Sex Kahani नखरा चढती जवानी दा
रीत को अक्टिवा चलते-चलते ही, क्लास में बेंच वाले सीन याद आ जाते हैं। ऊपर से ज्योति की ऐसी ऐसी बातें उससे कह रही थी। ये सब मिलकर रीत के अंदर खलबली मचा रहे थे। रीत कहती है- “नहीं यार, मैं तो तुझसे ऐसे ही पूछ रही थी..”

ज्योति तभी धीरे से अपने दोनों हाथ रीत के पेट से थोड़े ऊपर करती है, और जोर से रीत की दोनों अपने हाथ में लेकर मसल देती है।

इससे रीत के अंदर फिर से वो ही करेंट दौड़ पड़ता है। रीत का अक्टिवा से कंट्रोल कुछ सेकेंड के लिए हट जाता है। पर वो अक्टिवा को जल्दी ही संभाल लेती है।

ज्योति- अच्छा तेरी चूचियां तो कह रही है, की उन्हें बहुत मजा आया था।

रीत अब चुप हो जाती है और उसके गोरे-गोरे गाल एकदम लाल हो जाते हैं।

ज्योति- क्या हुआ जान, कहीं नीचे पानी तो लीक नहीं कर गया?

रीत ज्योति की बातें सुनकर पानी-पानी हो जाती है। क्योंकी वो हैरान थी, की ज्योति को कैसे पता चल गया की उसकी चूत ने अपना पानी छोड़ दिया है? इतनी देर में ज्योति का घर आ जाता है, और रीत ज्योति को छोड़कर सीधा अपने घर 5 मिनट में आ जाती है। घर आते ही वो अपनी मम्मी सुखजीत को मिलती है, और फिर वो अपने रूम में ऊपर चली जाती है।

रीत अपने रूम में आकर अपने रूम को लाक करती है। फिर वो अलमारी से अपनी एक टी-शर्ट और एक अफगानी पाजामी निकालती है। फिर रीत ने अपना कुर्ता निकाला और खुद वो शीशे के सामने खड़ी होकर अपनी चूचियां बड़े ध्यान से देखने लगी।

उसकी ब्लैक कलर की ब्रा में उसके मोटी-मोटी गोरी चूचियां सच में काफी खूबसूरत लग रही थीं। फिर रीत ने अपनी सलवार का नाड़ा भी खोल दिया। नाड़ा जैसे ही ढीला हआ, उसकी सलवार एकदम सरक कर नीचे आ जाती है। अब रीत सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी, वो अपने आपको शीशे में देखकर शर्मा जाती है, और फिर वो अपने मन में बोलती है।

रीत- “मैं इतनी जवान कब हो गई, मुझे पता तक नहीं चला। ज्योति सही कह रही थी, की मेरी चूचियां और गाण्ड अब भारी हो गई है। भगवान कहीं मेरे ऊपर जवानी तो नहीं चढ़ गई? जवानी में क्या होता है? क्या हरी जो ज्योति के साथ कर रहा था, क्या वो होता है?"

तभी रीत साइड पोज में मिरर के आगे खड़ी होकर अपनी मोटी गाण्ड को देखती है और बोलती है- “हाए अब मैं इसका क्या करूँ? ये कितनी मोटी हो गई है, और ऊपर से कैसे बाहर को निकली हुई है। लगता है ऊपर वाले ने सारी जवानी मुझे ही दे दी है."

ये सब सोचते हुए रीत अपना एक हाथ अपनी पैंटी में डालती है। जैसे ही उसका हाथ उसकी चूत पर जाता है। तभी उसे महसूस होता है, की उसकी चूत पानी से पूरी तरह से भीगी हुई है। फिर उसने अपना हाथ पैंटी से निकालकर अपनी कमर पर रखा। फिर उसने अपने ब्रा के हुक खोल दिए। जैसे ही हुक खुलकर उसकी ब्रा ढीली हई तो उसने चैन की सांस ली। फिर रीत ने धीरे से अपनी ब्रा को अपने जिश्म से अलग कर दिया।

उसकी दोनों चूचियां आजाद होकर शूकर मना रही थीं। रीत अब अपनी मक्खन जैसी चूचियां देख रही थी। जब उसने अपने नंगी चूचियों के ऊपर गुलाबी रंग का निपल देखा तो फिर से अपने मन में बोली।

रीत- “हाए रब्बा... मेरी चूचियां ना जाने कैसे इतनी बड़ी हो गई हैं। कितनी अच्छे लग रही हैं, ये मोटी-मोटी चूचियां। इतनि बड़ी होने की वजह से ये अब हिलती भी बहुत हैं। आजकल तो मेरी ब्रा में भी अब मेरा दम घुटने लगा है..” फिर रीत का अपना हाथ अपनी बायीं चूची पर चला जाता है, जिसको आज क्लास में परम ने दबाया था। रीत अपनी बायीं चूची को बड़े ध्यान से देखती है। फिर वो धीरे से अपनी बायीं चूची को मसल देती है।

जैसे ही रीत अपना चूची मसलती है। तभी उसके जिश्म में एक करेंट सा चल पड़ता है। जिससे वो नीचे से ऊपर तक पूरी काँप जाती है। इसमें रीत को बहुत मजा आ रहा था। फिर रीत ने अपने दोनों हाथों से अपनी दोनों चूचियों को पकड़कर मसलने लगती है। रीत की दोनों आँखें अपने आप मस्ती में बंद हो जाती हैं। फिर रीत का ध्यान अपनी पैटी पर जाता है। उसने अपनी पैंटी को उतारकर फेंक दिया।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Shocked Incest Kahani Incest बाप नम्बरी बेटी दस नम्बरी 1 desiaks 73 148,182 Today, 12:40 AM
Last Post: Romanreign1
Lightbulb XXX Sex Stories डॉक्टर का फूल पारीवारिक धमाका desiaks 102 9,215 Yesterday, 01:21 PM
Last Post: desiaks
Lightbulb Bhai Bahan Sex Kahani भाई-बहन वाली कहानियाँ desiaks 118 38,838 02-23-2021, 12:32 PM
Last Post: desiaks
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 2 9,357 02-23-2021, 07:31 AM
Last Post: aamirhydkhan
  XXX Kahani एक भाई ऐसा भी sexstories 72 1,119,130 02-22-2021, 06:36 PM
Last Post: Rani8
Star XXX Kahani Fantasy तारक मेहता का नंगा चश्मा desiaks 467 177,480 02-20-2021, 12:19 PM
Last Post: desiaks
  पारिवारिक चुदाई की कहानी Sonaligupta678 26 601,070 02-20-2021, 10:02 AM
Last Post: Gandkadeewana
Wink kamukta Kaamdev ki Leela desiaks 82 113,814 02-19-2021, 06:02 AM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Antarvasna कामूकता की इंतेहा desiaks 53 134,728 02-19-2021, 05:57 AM
Last Post: aamirhydkhan
Star Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान desiaks 115 405,074 02-10-2021, 05:57 PM
Last Post: sonkar



Users browsing this thread: 12 Guest(s)