DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
09-13-2020, 12:18 PM,
#11
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
उस हफ्ते सुनीता ने ज्योति और कर्नल साहब को डिनर पर आने के लिए दावत दी। तब कर्नल साहब ने सुनील के सामने एक शर्त रखी। पिछली बार सुनील की पत्नी सुनीता ने कुछ भी सख्त पेय पिने से मना कर दिया था। कर्नल साहब ने कहा की आर्मी के हिसाब से यह एक तरह का अपमान तो नहीं पर अवमान गिना जाता है। कर्नल साहब का आग्रह था की अगर वह सुनील के घर आएंगे तो सुनीताजी एक घूंट तो जरूर पियेंगी।

अपनी पत्नी सुनीता को सुनील ने कर्नल साहब के यह आग्रह के बारे में बताया तो सुनीता ने मान लिया की वह कर्नल साहब का मन रखने के लिए एकाध बियर पी लेगी। सुनील ने कर्नल साहब का आग्रह स्वीकार कर लिया। उसे किसी आर्मी वाले से ही पता लग गया था की ऐसा आग्रह होने पर महिलाएं ना भी पीती हों तो दिखाने के लिए ही सही पर एक छोटा सा पेग ले लेती हैं और थोड़ा बहुत पीती हैं या फिर पिने के बजाय उसको हाथों में लिए हुए घूमती रहती हैं। मौक़ा मिलने पर वह उसे अपने पति को दे देती है या फिर उसे कहीं ना कहीं (पेड़ पैधो में) निकास कर देती हैं।

ऐसा भी नहीं की आर्मी में हर कोई महिला शराब नहीं पीती। कुछ महिलाएं अपने पति या मित्रों के साथ शराब पीती भी हैं और उनमें से कुछ कुछ तो टुन्न भी हो जाती हैं। पर ऐसा कोई कोई बार ही होता है।

कर्नल साहब ने आते ही पहले सुनील को और बादमें सुनीता को अपनी बाँहों में भर लिया। सुनीता भी कर्नल साहब से गले मिलकर बड़ी प्रसन्न लग रही थी। कर्नल साहब की पत्नी ज्योति और सुनील ने भी यह देखा।

सुनील और सुनीता ने भी कर्नल साहब और ज्योति की आवभगत करनेमें कोई कसर नहीं छोड़ी। कर्नल साहब की तरह ही उन्होंने भी टेबल पर अलग अलग किस्म के सख्त पेय रखे थे और साथ में भांतिभांति के खाद्य नमकीन इत्यादि भी रख दिए गए थे।

कर्नल साहब के आते ही सुनील ने सब के लिए अपनी अपनी पसंदीदा सख्त पेय पेश किये। सुनीता गुजरात की थी सो उसने कुछ ख़ास गुजराती खाद्य पदार्थ कर्नल साहब और ज्योति के लये तैयार किये थे। कर्नल साहब के आग्रह पर सुनीता ने भी ज्योति के साथ अपने गिलास में बियर डाली और सब ने चियर्स कर के छोटी चुस्की ली। कर्नल साहब किछ ख़ास ही मूड में लग रहे थे।

आते ही जब सुनील की पत्नी सुनीता और कर्नल की पत्नी ज्योति अकेले में मिले तो ज्योति ने बताया की जब कर्नल साहब थोड़े अच्छे मूड़ में हों तब सुनील की पत्नी सुनीता कर्नल साहब को मौक़ा देख कर गणित सिखाने के बारे में पूछेगी। एक पेग जब कर्नल साहब लगा चुके थे और कुछ रोमांटिक मूड़ में अपनी बीबी ज्योति के साथ छेड़ छाड़ कर रहे थे तब मौक़ा पाकर सुनीता ने कर्नल साहब को गणित सिखाने के बारे में पूछा। ज्योति ने भी कर्नल साहब को हाँ करने के लिए रिक्वेस्ट की। जब कर्नल ने देखा की सुनीता और ज्योति दोनों तैयार थे तब कर्नल सुनीता को गणित पढ़ाने के लिए तैयार हो गए।

कर्नल बोले, "भाई मैं गणित में मेरी स्कूल और कॉलेज में टॉप रहा हूँ। मैंने शुरू में कॉलेज में गणित पढ़ाई है। (सुनीता की और मुड़कर बोले) मैं तुम्हें ऐसे सिखाऊंगा की तुम भी गणित की मास्टर बन जाओगी। (फिर वह रुक कर बोले) पर हाँ, उसकी फीस देनी पड़ेगी।"

उनकी बात सुनकर सुनीता उछल पड़ी और बोली, "हमें मंजूर है, क्या फीस होगी?"

कर्नल साहब बोले, "वक्त आने पर मांग लूंगा।"

सुनीता थोड़ी निराश सी लगी और बोली, "अरे! मुझे सस्पेंस में मत रखो। बोलो, क्या फीस चाहिए?"

कर्नल साहब ने कहा, "कुछ नहीं, कहना पर मांग लूंगा। चाय पिलानी पड़ेगी, अब तो यही चाहिए।"

सुनीता ने कहा, "जैसा आप ठीक समझें।"

यह तय हुआ की सुनीता को कर्नल साहब हर इतवार को दुपहर बारह बजे से हमारे घर में दो घंटे तक पढ़ाया करेंगे।

कर्नल साहब के जाने के बाद तो सुनीता जैसे हवा में उड़ने लगी। उसे एक ऐसा शिक्षक मिला था जो ना सिर्फ उसे से पढ़ायेगा, बल्कि जो उसका आदर्श था और कोई फीस की भी उन्हें अपेक्षा नहीं थी। उस रात बिस्तर में सुनील ने अपनी पत्नी सुनीता से कहा, "तुम्हें क्या लगता है? कर्नल साहब हमसे तुम्हारी पढ़ाई के बदले में क्या मांगेंगे?"

सुनीता ने सुनील की और अजीब तरीके से देखते हुए कहा, "पर उन्होंने तो फीस के लिए कुछ कहा ही नहीं। वह मुफ्त में ही पढ़ाएंगे। उन्होंने तो सिर्फ चाय ही मांगी है।"

सुनील ने कहा, "जानेमन एक बात समझो। मुफ्त हमेशा महँगा पड़ता है। जिंदगी में कुछ भी मुफ्त में नहीं मिलता। इंसान को हर चीज़ की कीमत चुकानी पड़ती है।"

तब सुनीता ने सुनील की और बड़े ही भोलेपन से देखा और बोली, "तो फिर? तुम्हें क्या लगता है? कर्नल साहब क्या मांगेंगे?"

सुनील ने अपने कंधे हिलाते हुए कहा, "क्या पता? देखते हैं। अगर वह कुछ भी नहीं मांगते हैं फिर भी हम को समझ कर कुछ ना कुछ तो देना ही पडेगा ना?"

वह बात यूँ ही खत्म हुई। कर्नल साहब नियमित ठीक बारह बजे आने लगे। सुनीता एक अच्छे विद्यार्थी की तरह तैयार रहती और वह दोनों सुनील के स्टडी रूम में अलग से बैठ कर पढ़ाई करते। सुनीता ने सुनील को बताया की कर्नल साहब गज़ब के शिक्षक थे, और कुछ ही दिनों में सुनीता को गणित में काफी रस पड़ने लगा। वह गणित की कठिन समस्याओं को सुलझाने लगी। सुनीता के चेहरे पर यह एक नयी उपलब्धि प्राप्त करने का संतोष साफ़ नजर आ रहा था।

कई बार सुनील ने महसूस किया की कर्नल साहब और उसकी बीबी की नजदीकियाँ कुछ बढ़ सी गयी थी। रात को उनके शयन कक्ष में जब सुनील सुनीता के साथ अठखेलियां करने लगता तो महसूस करता था की सुनीता कुछ खोयी खोयी सी लगती थी। जब सुनील पूछता तो सुनीता टाल देती। पर एक दिन जब सुनील ने सुनीता को कुछ ज्यादा ही जोर देकर पूछा तो वह थोड़ी मायूस होकर बोली, "सुनील, मुझे समझ नहीं आता की मैं क्या बताऊँ।"

सुनील ने कहा, "अगर तुम बताओगी नहीं तो मैं कैसे समझूंगा?"

तो सुनीता बोली, " कर्नल साहब मुझसे बड़ी ही निजी, अजीब सी लगने वाली हरकतें जाने अनजाने में करते हैं।"

सुनील ने पूछा, "क्या मतलब?"

तो बोली, "कर्नल साहब मुझे बहुत अच्छी तरह पढ़ाते हैं। मेरे लिए वह घरमें देर रात तक खुद भी पढ़ाई करते हैं। पर कई बार वह ऐसा कुछ कर बैठते हैं की मैं उलझन में फँस जाती हूँ। समझ में नहीं आता की क्या करूँ और क्या कहूं। जब मैं पढ़ाई में अच्छा करती हूँ तो वह मुझ से लिपट जाते हैं, मतलब आलिंगन करते हैं और कई बार ख़ुशी के मारे मेरे बदन को सहलाते हैं, कई बार वह बूब्स को हलके से पकड़ कर सेहला देते हैं या दबा देते हैं।

कई बार गलती करती हूँ तो वह मेरे कान मरोड़ते हैं और मेरी साडी या ड्रेस में हाथ डाल कर मेरे पेट पर चूँटी भरते हैं; और अगर मैं खड़ी होती हूँ तो मेरे पिछवाड़े को भी दबाकर चूँटी भरते हैं। मैं उन्हें रोक नहीं पाती। मैं तुम्हें बताने की कोशिश कर रही थी, पर बोल नहीं पायी। कई बार मैं सोचती हूँ को उनको रोकूं और ऐसा ना करने के लिए टोकूं। मेरी समझ में यह नहीं आता की उनकी मंशा क्या है। जब वह पढ़ाते हैं तो उनका ध्यान कभी भी मुझे पढ़ाने के अलावा कहीं नहीं जाता। मैं उनसे सट कर भी बैठती हूँ तो भी उनपर कोई असर नहीं होता। पर अचानक वह मुझसे ऐसी शरारत कर बैठते हैं। मेरी समझ में नहीं आता बताओ मैं क्या करूँ?"
Reply

09-13-2020, 12:18 PM,
#12
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
सुनील की सीधी सादी बीबी सुनीता की बातें सुनकर का हँसना थम नहीं रहा था। सुनील ने कहा, "हे मेरी प्यारी भोली बीबी। अरे कर्नल साहब एक जाँबाज जवाँ मर्द हैं और वह कुछ रोमांटिक टाइप के भी हैं। अगर वह तुम्हारे लिए इतना श्रम कर रहे हैं, रात रात भर जाग कर तुम्हारे लिए वह खुद पढ़ रहे हैं तो फिर वह तुम्हारी सफलता और निष्फलता पर उत्तेजित तो होंगे ही। अगर तुम सफल होती हो तो वह तुम्हें आलिंगन भी करेंगे और तुम्हारे शरीर को प्यार से सेहलायेंगे भी।

और अगर तुम असफल होती हो तो वह निराशा और गुस्से में तुम्हें चूँटी भरेंगे या कोई ना कोई सजा भी देंगे। यह स्वाभाविक है। इस में कुछ भी अजीब नहीं है। अगर तुम्हारी जगह कोई लड़का होता तो शायद वह ऐसा ही कुछ करते। पर चूँकि तुम औरत हो और खूबसूरत हो तो कर्नल साहब थोड़ा ज्यादा ही उत्साहित और रोमांचित होते होंगे। यह स्वाभाविक है। अगर तुम उसको नेगटिवली लेती हो तो यह गलत होगा। वह कर्नल साहब के ऊपर शक करने वाली बात होगी। मेरा तुमसे यह कहना है की तुम अपना ध्यान पूरी तरह से पढ़ाई में लगाओ।"

सुनीता ने अपने पति सुनील की और देखा। उसे अपने पति पर गर्व हुआ। सुनील उसका कितना ख्याल रखता है, यह सोचकर उसे अपने पति पर अनायास ही प्यार उमड़ा। उसने सुनील का हाथ थाम कर कहा, "आप की बात सही है। मुझे गणित से सख्त नफ़रत थी। पर अब कर्नल साहब की महेनत के कारण मुझे गणित अच्छा लगने लगा है, बल्कि मुझे गणित से प्यार होने लगा है। मैं कितनी भाग्य शाली हूँ की मुझे जस्सूजी जैसे गुरु मिले और आप जैसे पति मिले।"

सुनील ने अपनी बात आगे बढ़ाते हुए कहा, "देखो वह तुम्हारे गुरु हैं। गुरु भगवान् के समान होता है। वह तुम्हारी तरक्की से खुश होते हैं और तुम्हारी कमियों से नाराज होते हैं। यह स्वाभाविक है। इसमें चिंता की कोई बात नहीं है। बल्की यह अच्छा है की वह यह सब करते हैं, क्यूंकि यह दर्शाता है की वह तुम्हारी पढ़ाई में पूरा ध्यान लगाते हैं।

अगर तुमने उनको रोकने या टोकने की कोशिश की तो हो सकता है वह थोड़े से निराश या हताश हों। उस कारण उनका मन तुम्हें पढ़ाने में से हट जाए और उसका प्रभाव तुम्हारी पढ़ाई पर पडेगा। तुम्हें तो चाहिए की तुम उनका उत्साह बढ़ाओ। उनका और भी साथ दो और एक अच्छे विद्यार्थी की तरह उनकी आलोचना और सजा को स्वीकारो और उनकी शाबाशी भरे उल्लास का सम्मान करो। उनमें कोई दोष ना देखो। वह एक गुरु या शिक्षक का अपने विद्यार्थी के प्रति प्यार और सम्मान का प्रतिक है। इसका तुम्हें गर्व होना चाहिए।"

अपने पति की ऐसी सिख सुनकर सुनीता खुश तो हुई पर उसे थोड़ा आश्चर्य भी हुआ। उसने पूछा, "पर सुनील, यह तो गलत है ना? अगर बात छेड़छाड़ से आगे बढ़ गयी तो? कहीं कर्नल साहब ने कुछ ऐसी वैसी हरकत की तो? फिर क्या होगा?"

सुनील ने कहा, "अरे डार्लिंग तुम बहुत ज्यादा सोचती हो। वह कभी ऐसा कुछ नहीं करेंगे जो आपको पसंद नहीं होगा। मैं नहीं मानता की वह कोई जबरदस्ती करने वालों में से हैं। और फिर ऐसी वैसी हरकत वह क्या कर सकते हैं? क्या तुम्हें लगता है वह तुम्हें चोदना चाहेंगे?"

सुनीता ने कहा, "यह आप क्या बकवास करते हो? भला ऐसा आप कैसे कह सकते हो?"

सुनील ने कहा, "देखो डार्लिंग, वह एक मर्द है। हर मर्द की नजर दूसरे की बीबी पर रहती ही है। ख़ास कर जब वह बला की खूबसूरत हो, जैसे की तुम हो। सच कहूं तो हर मर्द दूसरे की खूबसूरत बीबी को चोदने के सपने देखता ही रहता है।"

अपने पति सुनील के मुंह से ऐसे शब्द निकल ते ही सुनीता एकदम सकपका गयी और स्तब्ध हो गयी। वह अपने पति के चेहरे को देखने लगी। कहीं उसके पति कर्नल साहब से जल तो नहीं रहे? कहीं उनको उसके और कर्नल साहब के रिश्ते पर कोई शक तो नहीं हो रहा? अनजाने में ही सुनील की पत्नी के चेहरे पर लज्जा और शर्म की लालिमा छा गयी। उसने झिझकते घबराते हुए पूछा, "डार्लिंग तुम मेरे और कर्नल साहब के रिश्ते के बारे में कहीं गलत तो नहीं सोच रहे?"

सुनील जोरदार ठहाका लगा कर हंसने लगा। उसने कहा, "नहीं डार्लिंग नहीं। ऐसा बिलकुल नहीं है। तुम ऐसा सोच भी कैसे सकती हो? क्या मेरे कहने का यह मतलब था? मैं तो जो मर्दों के मन के भाव होते हैं वह तुम्हें बता रहा था, ताकि तुम कुछ गलत ना सोचो। तुम पर मुझे अपने से भी ज्यादा भरोसा है। और उससे भी कहीं ज्यादा मुझे कर्नल साहब पर भरोसा है। और हाँ डार्लिंग, एक बात और बताऊँ? मैं तुम्हें और कर्नल साहब को इतना चाहता हूँ की अगर ऐसा वैसा कुछ हो भी जाए तो यह ज़रा भी मत सोचना की मैं तुम पर कभी कोई तरह की आंच आने दूंगा।"

यह सुनकर सुनीता की आँखें झलझला उठीं। वह अपने पति के इतने विश्वास से गदगद हो गयी। सुनीता का गला रुंध गया। वह कुछ बोल ना पा रही थी। सुनीता ने अपने पति सुनील को गले लगाया और बोली, "आप मुझे कितना प्यार करते हैं। मैं ही आप को समझ नहीं पायी। फिर धीरे से सुनीता ने अपने पति के पाजामें में हाथ डाल कर कहा, "डार्लिंग, आज मेरा बहुत मन कर रहा है।"
Reply
09-13-2020, 12:18 PM,
#13
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
सुनीता की बात सुनकर सुनील की ख़ुशी का ठिकाना ना रहा। काफी अरसे के बाद उस रात सुनीता ने अपने पति को सामने चलकर उसे चोदने के लिए आमंत्रित किया। सुनील के लिए यह एक चमत्कारिक घटना थी। सुनील सोचने लगा कहीं ना कहीं कर्नल साहब के बारे में हुई बात का यह असर है। इस का मतलब यह हुआ की सुनीता को कर्नल के बारेमें सेक्स सम्बन्धी बात करने से और उसे प्रोत्साहित करने से सुनीता के मन में भी सेक्सुअल उत्तेजना की चिंगारी काफी समय के बाद फिर भड़क उठी थी। इसके पहले सुनील की कई कोशिशों के बावजूद भी सुनीता का सेक्स करने का मूड नहीं बन पाता था।

सुनील ने जल्द ही अपने पाजामे के बटन खोल दिए और अपना लण्ड अपनी बीबी सुनीता के हाथों में दे दिया। सुनीता ने अपने पति का लण्ड सहलाते हुए उनसे पूछा, "सुनील डार्लिंग, क्या आप शिक्षक की इतनी ज्यादा एहमियत मानते है?"

सुनीता के हाथ में अपने लण्ड को सहलाते अनुभव कर सुनील ने मचलते हुए कहा, "हाँ, बिलकुल। मैं मानता हूँ की माँ के बाद शिक्षक की अहमियत सबसे ज्यादा है। माँ बच्चे को इस दुनिया में लाती है। तो शिक्षक उसको अज्ञान के अन्धकार से ज्ञान के प्रकाश मे ले जाता है। शिक्षक अपने शिष्य को ज्ञान की आँखें प्रदान करता है।

जहां तक आपका सवाल है तो जो विषय (मतलब गणित) आप का सर दर्द था और आप जिससे नफरत करते थे, अब आप उस विषय को प्यार करने लगे हो। जो अड़चन आपकी तरक्की में राह का अड़ंगा बना हुआ था, वह विषय अब आपकी तरक्की को आसान बना देगा। यह गुरु की उपलब्धि है।"

सुनीता ने यह सूना तो सुनील पर और भी प्यार उमड़ पड़ा। उसने बड़े चाव से अपने पति के लण्ड की त्वचा को अपनी मुट्ठी में पकड़ते हुए बड़ी ही कोमलता और स्त्री सुलभ कामुकता से प्यार से हिलाना शुरू किया। सुनील की उत्तेजना बढ़ती गयी। वह अपने आप पर नियत्रण नहीं रख पा रहा था। सुनील का उन्माद और उत्तेजना देख कर सुनीता और भी प्रोत्साहित हुई।

सुनीता ने झुक कर सुनील के लण्ड के चारों और की त्वचा को अपने दूसरे हाथ से सहलाया और झुक कर अपने पति के लण्ड को चूमा। यह महसूस कर सुनील और उन्मादित होने लगा। सुनीता ने अपने पति के लण्ड के अग्रभाग को जब अपने होँठों के बिच लिया तो सुनील उन्माद के चरम पर पहुँच रहा था। उसकी रूढ़िग्रस्त पत्नी उसे वह प्यार दे रही थी जो शायद उसने पहले उसे कभी नहीं दिया।

सुनील भी अपनी कमर को ऊपर उठाकर अपने पुरे लण्ड को अपनी बीबी के होँठों की कोमलता को अनुभव करा ने के लिए व्याकुल हो रहा था। सुनीता ने और झुक कर अपने पति के लण्ड का काफी हिस्सा अपने होँठों के बिच लेकर वह उस लण्ड की कोमल त्वचा को अपने होँठों से ऐसे सहलाने लगी जैसे वह अपने होँठों से ही अपने पति के लण्ड को मुठ मार रही हो। सुनीता ने धीरे धीरे सुनील के लण्ड को मुंह से अंदर बाहर करने की गति तेज कर दी। सुनीता के घने बाल सुनील की कमर और जाँघों पर हर तरफ बिखर रहे थे और एक गज़ब का उन्माद भरा दृश्य पेश कर रहे थे।

सुनील अपना नियत्रण खो चुका था। अब उससे रहा नहीं जा रहा था। सुनील ने अत्योन्माद में अपनी पत्नी के सर पर अपना हाथ रखा। सुनीता के सर के साथ साथ सुनील का हाथ भी ऊपर निचे होने लगा। अचानक ही सुनील के दिमाग में जैसे एक बम सा फटा और एक जोशीले उन्माद से भरा उसके लण्ड के महिम छिद्र से उसके पौरुष का फव्वारा फुट पड़ा।

अपनी पत्नी के चेहरे, होँठ, गाल और गर्दन पर फैले हुए अपने वीर्य को देख सुनील गदगद हो उठा। कई बार अपनी पत्नी को कितनी मिन्नतें करने के बाद भी सुनील अपनी पत्नी को मौखिक चुदाई करने के लिए तैयार नहीं कर पाता था। पर उस रात सुनीता ने स्वतः ही सुनील के लण्ड को चूस कर उसका वीर्य निकाल कर उसे मंत्रमुग्ध कर दिया था।

सुनील समझ ने कोशिश कर रहा था की इसका क्या ख़ास कारण था। सुनील को लगा की कहीं ना कहीं कर्नल साहब का भी कुछ ना कुछ योगदान इसमें था जरूर। दोनों पति पत्नी इतनी मशक्कत करने के बाद आराम के लिए बिस्तर पर कुछ देर तक चुपचाप पड़े रहे। सुनीता ने अपना गाउन अपनी जाँघों के भी ऊपर किया और अपने पति की दोनों टांगों को अपनी टांगों में लेकर बोली, "पति देव, कैसा लगा?"

सुनील की आँखें तो अपनी बीबी की नंगी चूत देख कर वहाँ से हटने का नाम ही नहीं ले रही थी। सुनीता ने जानबूझ कर अपनी खूबसूरत हलके बालों को सावधानी से छँटाई कर सजी हुई चूत अपने पति के दर्शन के लिए खोल दी थी। सुनीता बड़े ही रूमानी मूड़ में थी। उसकी चूत अपने पति से अच्छी खासी चुदाई करवाने की इच्छा से मचल रही थी। उसकी चूत की फड़कन रुकने का नाम नहीं ले रही थी।

अब उसे अपने पति को दोबारा तैयार करना था। पति का हाल में स्खलन हुआ था और अब उसके लिए तैयार होना शायद मुश्किल ही था। पर सुनीता को चुदाई की जबरदस्त ललक लगी थी। वह अपने पति का लंबा और मोटा लण्ड से अपनी चूत की प्यास को शांत करने की फ़िराक में थी।

काफी समय के बाद अपनी पत्नी की ऐसी ललक सुनील को काफी रोमांचित कर उठी। सुनील को याद नहीं था की पिछली बार कब उनकी पत्नी इतनी उत्तेजित हुई थी। उन्होंने जहां तक याद था उसे कभी भी इस तरह चुदाई के लिए बेबाक नहीं पाया था। क्या कर्नल साहब की बात सुनकर वह ऐसी उत्तेजित हो गयी थी? या फिर अपने पति पर ज्यादा ही प्यार आ गया, अचानक?

खैर जो भी हो। सुनील को भी अपनी पत्नी को इतना गरम देख कर उत्तेजना हुई। उपरसे सुनीता उनका लण्ड जो इतने प्यार से सेहला रही थी उसका असर तो होना ही था। सुनील का लण्ड कड़क होने लगा। जैसे सुनील का लण्ड कड़क होने लगा वैसे वैसे सुनीता ने भी सुनील के लण्ड को हिलाने की फुर्ती बढ़ा दी। देखते ही देखते सुनील का लण्ड एक बार फिर एकदम सख्त और ठोस हो गया। अब उसमें टिकने की क्षमता भी तो ज्यादा होने वाली थी, क्यूंकि एक बार झड़ने के बार वीर्य स्खलन होने में भी थोड़ा समय तो लगता ही है।
Reply
09-13-2020, 12:18 PM,
#14
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
जैसे ही सुनीता ने देखा की उसके पति एक बार फिर तैयार हो गए हैं, तो वह धीरे से खिसक कर पलंग पर लेट गयी और अपने पति को उपर चढ़ ने के लिए इशारा किया। सुनील अपना लंबा फैला हुआ लौड़ा लेकर खड़ा हुआ। उसने अपनी खूबसूरत पत्नी को ऐसे नंगा लेटे हुए देखा तो वह देखता ही रह गया। शादी के इतने सालों के बाद भी सुनीता के पुरे बदन पर कही भी चरबी का नामो निशान नहीं था। उसकी कमर वैसी ही थी जैसी उनकी शादी के समय थी। उसके पेट का निचे का हिस्सा थोड़ा सा उभरा हुआ जरूर था। पर वह तो हर स्त्री को होता ही है। सुनीता की चूत साफ़ की हुई दोनों जाँघों के बिच ऐसी छुपी हुई थी जैसे अपने पति का लण्ड देख कर शर्मा रही हो।

सुनील ने झुक कर अपनी बीबी की गीली चूत पर अपना लण्ड कुछ पल रगड़ा। इससे वह स्निग्ध हो गया। अब उस लण्ड को चूत के प्रवेशद्वार में घुसनेमें कोई दिक्कत नहीं होगी। सुनील ने सुनीता के दोनों स्तनों को अपने हाथों में पकड़ा और उन्हें दबा कर प्यार से मसलने लगा। अपनी पत्नी की फूली निप्पलों को उँगलियों में ऐसे दबाने लगा जैसे उनमें दूध भरा हो और उनमें से दूध की पिचकारी की धार फुट निकलने वाली हो। दूसरे हाथ से वह अपनी बीबी के कूल्हों को अपनी उँगलियों से दबा रहा था।

एक हल्का सा धक्का लगा कर सुनील ने अपना लण्ड अपनी बीबी की चूत में धकेल दिया। अपने पति का जाना पहचाना लण्ड पाकर भी सुनीता उस रात मचल उठी। अपनी चूत में ऐसी गजब की फड़कन सुनीता ने पहले कभी नहीं महसूस की थी। आज अपने पति के लण्ड में ऐसा क्या था? सुनीता यह समझ नहीं पा रही थी। अचानक उसे ख्याल आया की सारी बात तो कर्नल साहब की शरारत और चोदने की बात से ही शुरू हुई थी। कहीं ऐसा तो नहीं की सुनीता के अपने मन में ही खोट हो? सुनीता खुद भी ना सोचते हुए भी खुद कर्नल साहब से चुदवाने के सपने देख रही हो?

यह सोच कर सुनीता सिहर उठी। उसका रोम रोम काँप उठा। सुनीता के रोंगटे खड़े हो गए। अपने शरीर में हो रहे रोमांच से सुनीता को एक अद्भुत आनंद की अनुभूति हुई तो दूसरी और वह यह सोचने लगी की उसको यह क्या हो रहा था? काफी अरसे से सेक्स के बारेमें वह पहले तो कभी इतनी उत्तेजित नहीं हुई थी।. सुनीता अपने मनमें अपने ही विचारों से डर गयी। जरूर कहीं ना कहीं उसके मन में चोर था। वह चाहती थी की कर्नल साहब उसके बदन को छुएं, सहलाएं, उसकी संवेदनशील इन्द्रियों को स्पर्श करें और उसे उत्तेजित करें।

अचानक अपने विचारों में ऐसा धरमूल परिवर्तन अनुभव कर सुनीता अपने आप से ही डर गयी। उसे चाहिए था की अपनी यह सोच को काबू में रखे। कहीं यह वासना की आग उनके दाम्पत्य जीवन को झुलस ना दे। खैर, उस समय तो उसे अपने प्यारे पति को वह आनंद देना था जो वह कई महीनों से या शायद बरसों से दे नहीं पायी थी।

बार बार कोशिश करने पर भी सुनीता जस्सूजी को अपने मन से दूर नहीं कर पायी। सुनीता के लिए यह बड़ी उलझन थी। एक तरफ वह अपने पति को उस रात सम्भोग का सुख देना चाहती थी और दूसरी और वह किसी और से ही सम्भोग के बारे में सोच रही थी। खैर मन और शरीर का भी अजीब सम्बन्ध है। मन उत्तेजित होता है तो अंग अंग में भी उत्तेजना फ़ैल जाती है। जब सुनीता बार बार कोशिश करने पर भी अपने जहन से जस्सूजी के बारे में सोचना बंद ना कर पायी तो फिर उसने सोचा, यही उत्तेजना से अपने पति को क्यों ना खुश करे, चाहे वह भाव जस्सूजी के लिए ही क्यों ना हो? यह सोच कर सुनीता ने अपनी गाँड़ को ऊपर उठाकर अपने पति को अपना लण्ड चूत में घुसाने के लिए प्रेरित किया।

सुनील ने एक हलके धक्के के साथ अपना पूरा लण्ड अपनी बीबी सुनीता की टाइट चूत में घुसेड़ दिया। सुनीता के दिमाग में उस रात गजब का उन्माद सवार था। सुनीता के बदन में उस रात खूब चुदाई करवाने की एक गजब की उत्कंठा थी। सुनीता का पूरा बदन वासना से जल रहा था। जैसे जैसे सुनील ने अपना लण्ड अपनी पत्नी की चूत में पेलना शुरू किया वैसे वैसे ही सुनीता की वासना की आग बढ़ती ही गयी। जैसे ही उसका पति अपना लण्ड सुनीता की चूत में घुसेड़ता ऐसे ही अपना पेडू और गाँड़ ऊपर उठाकर अपने पति के लण्ड को और गहराईयों तक पहुंचाने के लिए सुनीता अपने बदन से ऊपर धक्का दे रही थी। दोनों ही पति पत्नी अपनी चुदाई की क्रिया में इतने मशगूल थे की उन्हें आसपास की कोई भी सुध ही नहीं थी।

काफी रात जा चुकी थी। कॉलोनी में चारों तरफ सन्नाटा था। उसमें सुनील और सुनीता, पति पत्नी की चुदाई की "फच्च फच्च" आवाज और उच्च ध्वनि पूर्ण कराहटों से ना सिर्फ सुनील का बैडरूम गूँज रहा था, बल्कि उनके बैडरूमकी खुली खिड़कियों से बाहर निकल कर सामने कर्नल साहब के बैडरूम में भी उसकी गूँज सुनाई दे रही थी।

कर्नल साहब की पत्नी ज्योति ने जब सुनील और सुनीता के बैडरूम से कराहट की आवाज सुनी तो अपने पति को कोहनी मार कर उठाया और बोली, "सुन रहे हो? तुम्हारी प्यारी शिष्या अपने पति से चुदाई के कुछ पाठ पढ़ रही है। आप उसे गणित पढ़ाते हो और आपका दोस्त अपनी बीबी को चुदाई के पाठ पढ़ाता है। यह ठीक भी है। ऐसा मत करना की कहीं यह किस्सा उलटा ना हो जाए। मैं जानती हूँ की आप गणित के अलावा कई और विषयों में भी निष्णात हो। पर आप उसे गणित के अलावा कोई और पाठ मत पढ़ाना।"

गहरी नींद में सो रहे कर्नल साहब ने करवट ली और बोले, "सो जाओ, डार्लिंग। तुम सुनील क्या पाठ पढ़ा सकता है उसके बारे में ज्यादा मत सोचो। कहीं तुम्हारा मन वह पाठ पढ़ने के लिए तो नहीं मचल रहा?"

उस रात सुनील और उसकी पत्नी सुनीता में बड़ी घमासान चुदाई हुई। बड़ी कोशिश करने पर भी उस रात शायद सुनीता को वह पूरी तरह संतुष्ट नहीं कर पाया ऐसा सुनील को महसूस हुआ। हालांकि उसकी पत्नी ने सुनील को उस रात ऐसा प्यार का तोहफा दिया था जिसके लिए महींनों सो सुनील तड़प रहा था।
Reply
09-13-2020, 12:18 PM,
#15
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
उस रात सुनील और उसकी पत्नी सुनीता में बड़ी घमासान चुदाई हुई। बड़ी कोशिश करने पर भी उस रात शायद सुनीता को वह पूरी तरह संतुष्ट नहीं कर पाया ऐसा सुनील को महसूस हुआ। हालांकि उसकी पत्नी ने सुनील को उस रात ऐसा प्यार का तोहफा दिया था जिसके लिए महींनों सो सुनील तड़प रहा था।

सुनीता की पढ़ाई जोरो शोरों से चल रही थी। कर्नल साहब भी रात रात भर खुद पढ़ाई करते और दूसरे दिन आकर सुनील की पत्नी सुनीता को पढ़ाते। वक्त कहाँ जा रहा था पता ही नहीं चला। देखते ही देखते परीक्षा का समय आ गया।

परीक्षा तीन दिन के बाद होने वाली थी की अचानक खबर आयी की परीक्षा का पेपर लिक हो गया और परीक्षा कुछ दिनों के लिए पीछे धकेल दी गयी। इतनी महेनत करने के बाद जब ऐसा हुआ तो सुनील की पत्नी सुनीता एकदम निराश हो गयी। वह थक चुकी थी। उसे थोड़ा तनाव मुक्त समय चाहिए था। उधर कर्नल साहब भी बड़े दुखी थे। उन्हें लगा की जैसे सारी मेहनत पर पानी फिर गया।

सुनील की पत्नी सुनीता ने एक दिन तंग आकर सुनील से कहा, "अब यह सस्पेंस जान लेवा हो रहा है। लगता है कुछ देर ही सही, हमें इस झंझट से हटकर हमारा दिमाग कहीं ऐसी प्रक्रिया में लगाना चाहिए जिससे हमारा ध्यान परीक्षा और परिणाम से हट जाए। कई बार तो मेरा मन करता है की मैं शराब पीकर ही थोड़ी देर टुन्न हो जाऊं और वर्तमान भूल जाऊं।"

सुनील की पत्नी सुनीता शराब नहीं पीती थी। जब उसने यह कह दिया तो सुनील समझ गए की वह कितनी थक गयी है और उसे कुछ मनोरंजन या कुछ क्रीड़ा की आवश्यकता है जिससे उसका मन कुछ देर के लिए ही सही पर यह तनाव और दबाव से हट जाए।

सुनील ने सोचा क्यों ना वह अपनी पत्नी सुनीता को कहीं बाहर घुमाने के लिए ले जाए? पर वह असंभव था। सुनील को भी बहुत काम था और सुनीता की परीक्षा का दिन कभी भी आ सकता था। तो फिर वह कैसे सुनीता का मन बहलाये? फिर सुनील ने मन में आया की सुनीता को कोई चुदाई की ब्लू फिल्म दिखानी चाहिए। पर सुनील जानता था की सुनीता को ब्लू फिल्म में कोई दिलचश्पी नहीं थी। वह कहती थी, "अरे इसमें क्या है? यह तो स्त्रियाँ पैसे कमाने के लिए करती हैं। और फिर ऐसा तो हम हर रोज करते ही हैं।"

तो वह क्या करे? तब फिर अचानक उसे कर्नल साहब की याद आयी।

सुनील ने कर्नल साहब को फ़ोन कर सुनीता के मन की उलझन बतायी। कर्नल साहब ने हंसकर कहा, "सुनीता की बात एकदम सही है। मैं खुद भी थक चुका हूँ। मैं खुद भी सोचता हूँ की कहीं कुछ ऐसा करूँ की उस में ही उलझ जाऊं और यह गणित, परीक्षा और तनाव से दूर हो जाऊं। सुनील मेरी बात मानो तो मेरे पास एक ऐसा इलाज है की हम सब थोड़ी देर के लिए यह सब भूल जाएंगे।"

सुनील ने पूछा, "क्या बात है?'

कर्नल साहब ने कहा, "एक फॉरेन फिल्म फेस्टिवल चल रहा है। उसमें एक अनसेंसर्ड फिल्म "पति पत्नी और पडोसी" काफी चर्चे में है। पिक्चर एकदम इमोशनल है पर उसमें काफी धमाकेदार सेक्स के सीन हैं। मैं चाहता हूँ की तुम दोनों और हम दोनों एक साथ यह पिक्चर देखें। पर पता नहीं सुनीता तैयार होगी क्या?"

सुनील ने कहा, "मैं सुनीता से बात करता हूँ। आप ज्योति से बात करो।"

कर्नल साहब ने कहा, "मुझे ज्योति से बात करने की जरुरत नहीं है, क्यूंकि यह पिक्चर की बात ज्योति ने ही मुझे कही थी। उसकी एक सहेली यह पिक्चर देख कर आयी थी और उसे ही ज्योति ने कहा था। ज्योति को इस पिक्चर के बारेमें सब पता है।"

सुनील ने कहा, "ठीक है मैं सुनीता से बात करता हूँ। पता नहीं पर अगर मैं कहूंगा की आपने कहा है तो शायद वह मान जाए।"

जब सुनील ने अपनी पत्नी सुनीता से इस के बारेमें कुछ ऐसे बताया। सुनील ने कहा, "डार्लिंग तुम कहती थी ना की तुम कुछ देर के लिए ही सही, कुछ एकदम धमाकेदार और उत्तेजना भरा कुछ अनुभव करना चाहती हो?"
Reply
09-13-2020, 12:18 PM,
#16
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
सुनीता ने अपने पति की और देख कर अपना सर हाँ में हिलाया तो सुनील ने कहा, "डार्लिंग एक फिल्म फेस्टिवल चल रहा है उसमें गजब की अवॉर्ड प्राप्त फिल्मों को दिखाया जा रहा है। कर्नल साहब ने हमारे चारों के लिए एक बहुत अच्छी फिल्म के चार टिकट बुक कराएं हैं। फिल्म थोड़ी ज्यादा सेक्सी और धमाके दार है। तीन घंटे के लिए हम सब का दिमाग कुछ उत्तेजित हो जायेगा जिससे हम यह सब भूल जाएंगे। तुम क्या कहती हो?"

सुनीता ने कहा, " अच्छा? कर्नल साहब ने हम चारों के लिए टिकट बुक कराये हैं? सेक्सी पिक्चर है? चलो ठीक है सेक्सी पिक्चर है तो कोई बात नहीं। देखिये मुझे जाने में कोई एतराज नहीं है, पर मैं अंग्रेजी भाषा नहीं अच्छी तरह नहीं समझती। मैं कुछ समझूंगी नहीं। मैं भी बोर होउंगी और आपको भी पूछ पूछ कर बोर करुँगी। आप मुझे ना ही ले जाओ तो अच्छा है। दुसरा जस्सूजी के साथ ऐसी पिक्चर देखना क्या सही है? वह और ज्योति जी साथ जाएं तो ठीक है। पर हम चारों का एक साथ जाना...? "

सुनील ने अपनी पत्नी की बात को बिच में ही काटते हुए कहा, "पर कर्नल साहब की खास इच्छा है की तुम जरुर चलो। जहां तक भाषा का सवाल है तो कर्नल साहब और ज्योति तुम्हे सब बताते जाएंगे। मझा आएगा। चलो ना! मना करके सब का दिल मत दुखाओ यार।"

कुछ मिन्नतें करने पर सुनीता तैयार हो गयी। सुनील ने कर्नल साहब को समाचार सूना दिया।

सुनीता पहेली बार कोई विदेशी फिल्मोत्सव में जा रही थी। जब उसने सुनील से पूछा की कौन सा ड्रेस सही रहेगा तो सुनील ने मजे के लहजे में कहा, " डार्लिंग हम विदेशी फिल्म देखने जा रहे हैं, जहां काफी विदेशी लोग भी आएंगे। तो क्यों नहीं तुम वो वाली छोटी स्कर्ट और स्लीवलेस टॉप पहनो, जो मैंने तुम्हें हमारी शादी की साल गिराह पर दिए थे और जो तुमने कभी नहीं पहने? आज मस्ती का ही माहौल बनाना है तो फिर ड्रेस भी मस्ती वाला ही क्यों ना पहना जाए? क्यों ना आज पानी में आग लगा दी जाए?"

सुनील की पत्नी ने अपने पति की और देखा और हँस पड़ी, और बोली, "ठीक है, पतिदेव का हुक्म सर आँखों पर। पर मुझे जस्सूजी के सामने वह ड्रेस पहन कर जाने में शर्म आएगी। वह बहुत ही छोटा ड्रेस है। फिर आप कह रहे हो की पिक्चर भी बड़ी सेक्सी है। तो कहीं आग ज्यादा ही ना लग जाए और हम भी कहीं उस आग में झुलस ना जाएं? जस्सूजी मुझे ऐसे देखेंगे तो क्या सोचेंगे? यह सोचा है तुमने?" मज़ाक के लहजे में सुनीता ने भी अपने पति से कह दिया।

सुनील ने आँख मटक कर कहा, "उन पर तो बिजली ही गिर जायेगी। पर बिजली भी तो गिरना जरुरी है। भाई आपके गुरूजी ने आपके लिए दिन रात एक कर दिए हैं। आज तक उन्होंने तुम्हारा विद्यार्थिनी वाला रूप ही देखा है। आज तुम अपना कामिनी और मोहिनी रूप दिखाओ उनको। देखो यह एक गहराई की बात है। यह हम भले ही एक दूसरे को ना बतायें पर हम सब जानते हैं की वह तुम्हारे दीवाने हैं, तुम पर फ़िदा हैं। तुम्हारा इस रूप देख कर उन पर क्या बीतेगी वह तो वह जानें, पर मैं आज इतना कह सकता हूँ की आज वह हॉल में मेरी बीबी के जैसी खूबसूरत बीबी किसीकी नहीं होगी।"

एक पत्नी जब अपने पति के मुंह से ऐसी प्रशस्ति वचन या प्रसंशा सुनती है तो पत्नी के लिए उससे बड़ा कोई भी उपहार नहीं हो सकता। वह समझती है की उसका जीवन धन्य हो गया।

जब सुनीता छोटी स्कर्ट और पतला सा छोटा ब्लाउज पहन के बाहर आयी तो उसे देख कर सुनील की हवा ही निकल गयी। वह स्कर्ट और ब्लाउज में सुनील ने अपनी बीबी को पहले नहीं देखा था। ऐसा लगता था जैसे रम्भा अप्सरा स्वर्ग से निचे उतर कर कोई ऋषि मुनि के तप का भंग कराने के लिए आयी हो।

उस दिन कहीं कहीं कुछ बारिश हो रही थी। गर्मी थी इस लिए हवामें काफी उमस भी थी। पर ऐसा लगता था की उस शाम बारिश जरूर होगी। चूँकि सुनीता को सिनेमा हॉल में तेज A.C. के कारण अक्सर ठण्ड लगती थी, सुनीता ने अपने और अपने पति के लिए दो शॉल ली और निचे उतरी। कर्नल साहब और ज्योति उनका इंतजार ही कर रहे थे। जब कर्नल साहब ने अपनी शिष्या का मोहिनी रूप देखा तो उनकी आँखें फटी की फटी ही रह गयीं।

उन्होंने जो रूप सपने में देखा था (और शायद उसे कई बार अपने हाथों से निर्वस्त्र भी किया होगा) वह उनके सामने था। छोटी सी चोली में सुनीता के मदमस्त स्तन उभर कर ऐसे दिख रहे थे जैसे दो छोटे पहाड़ किसी प्रेमी के हाथों को उन पर सैर करने का आमंत्रण दे रहे हों। चोली के ऊपर से सुनीता के स्तनों का उदार उभार साफ़ दिख रहा था। वह उभार उन स्तनों की निप्पलोँ से थोड़ा सा ऊपर तक जा कर ब्रा के पीछे ओझल हो जाता था। कोई भी रसिक मर्द को इससे स्वाभाविक ही कुंठा या निराशा होगी। ऐसा महसूस होगा जैसे नाव किनारे तक आ कर डूब गयी। वह सोचने लगते, अरे चोली या ब्रा थोड़ी सी और निचे होती तो क्या हो जाता?

होँठ की तेज लाली और उसके गले का निखार कर्नल साहब ने उस दिन तक कभी ध्यान से देखा ही नहीं था। सुनीता के गाल कुदरती लालिमा से लाल थे। आँखों की तो बात ही क्या? काजल से अंकित आँखों की पलकें जैसे आतुरता से कोई प्रश्न पूछ रही हों और स्त्री सुलभ लज्जा से झुक कर आँखों से आँखें मिलाने से कतराती हों। आँखें ऐसी कामुक लग रही थी जैसे जस्सूजी को अपने करीब बुला रही हों। सुनीता की नोकीली नाक ऐसे लगती थी जैसे उन्हें किसी उमदा चित्रकार ने बड़े प्यार और ध्यान से बनाया हो। शर्म से हँसने के लिए आतुर हों ऐसे आधे खुले हुए होँठ की पंखुड़ियां जैसे तीर छोड़ने के बाद के धनुष्य के सामान दिख रहे थे।
Reply
09-13-2020, 12:19 PM,
#17
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
सुनील की बात सुनकर सुनीता ने थोड़ी देर अपने पति की और कुछ संकोच और कुछ हिचकिचाहट से देखा। सुनील ने अपनी पत्नी के हाथ दबा कर उसे विश्वास दिलाया की चिंता की कोई बात नहीं थी। तो सुनील की पत्नी सुनीता को कुछ संतुष्टि हुई और वह वापस कर्नल साहब के बगल में अपनी कुर्सी पर आ कर बैठ गयी।

कर्नल साहब ने देखा की सुनीता के चेहरे पर कुछ उलझन थी तो उन्होंने पूछा, "क्या बात है, सुनीता? आप कुछ परेशान लग रही हो? कहीं आप को मेरे साथ बैठने में कोई आपत्ति तो नहीं? अगर ऐसा है तो मैं अपनी सीट चेंज कर देता हूँ।"

सुनीता ने कर्नल साहब का हाथ पकड़ कर बोला, "नहीं जस्सूजी ऐसी कोई बात नहीं। बल्कि मैं आपके साथ ही बैठना चाहती हूँ।" फिर सुनीता ने सोचा की कहीं कर्नल साहब उसकी बात का गलत मतलब ना निकाले इस लिए वह ज्योति सुन सके ऐसे बोली, "क्यूंकि, मैं पिक्चर की अंग्रेजी की बोली अच्छी तरह से नहीं समझ पाती इस लिए जब भी जरुरत होगी मैं आपसे पूछूँगी। आप दोनों मुझे समझाना।" कर्नल साहब ने सुनीता का हाथ पकड़ कर उसे दिलासा दिलाया की वह जरूर सुनीता को सारे डॉयलोग समझायेंगे।

परदे पर पिक्चर शुरू हो चुकी थी। कहानी कुछ ऐसी थी। एक युवा और युवती समंदर में "सी सर्फिंग" (समंदर की सतह पर समंदर की ऊँची ऊँची मौजों पर सपाट लकड़ी के फट्टे पर खड़े होकर या लेट कर फिसलना) कर रहे थे। उस समय वह दोनों के अलावा वहां और कोई नहीं था। दोनों ही अपनी धुन में मस्त सर्फिंग कर रहे थे की अचानक लड़की लकड़ी के फट्टे से गिर पड़ी और एक पत्थर से उसकी टक्कर होने के कारण बेहोश हो गयी।

वह युवक ने लड़की को पानी से निकाल कर समंदर के किनारे लिटाया और लड़की के भरे हुए उभरे स्तनोँ पर अपने दोनों हाथों की हथेलियां रख कर उन्हें जोर से दबाकर लड़की के पेट में से पानी निकालने के लिए और उसकी साँस फिर से चालु हो इस लिए बार बार धक्के मार कर लड़की को होश में लाने की कोशिश करने लगा।

जब लड़की के मुंह से काफी पानी निकल गया और वह होशमें आयी और उसकी आँख खुली तो उसने लड़के को देखा। वह समझ गयी की लड़के ने उसकी जान बचाई थी। वह बैठ गयी और लड़के को अपनी बाहों में लेकर उससे लिपट गयी और लड़के के मुंह से अपना मुंह चिपका कर उसने लड़के को एक गहरा चुम्बन दे डाला।

धीरे धीरे दोनों एक दूसरे की और आकर्षित हुए। उस दिन के बाद दोनों फिर साथ में ही सर्फिंग करने लगे। एक बार वह लड़की जब समंदर से निकल कर अपना ड्रेस बदल रही थी तब उसने थोड़ी दूर खड़े हुए उस लड़के की और टेढ़ी नजर से देखा। निगाहों से निगाहें मिलीं और प्यार का इशारा हुआ। लड़के ने तौलिये में लिपटी हुई लड़की को अपनी बाहों में ले लिया। तौलिया गिर गया और नंगी लड़की निक्कर पहने हुए लड़के से लिपट गयी। लड़की ने अपने हाथ से लड़के की निकर निचे खिसका दी। दो नंगे बदन समंदर के किनारे एक दूसरे से लिपटे हुए प्रगाढ़ चुम्बन में लिप्त एक दूसरे के बदन को सहलाने लगे।

परदे पर जब यह दृश्य चल रहा था तो सुनीता ने महसूस किया की कर्नल साहब ने सुनीता का हाथ जो की शुरू से ही कर्नल साहब के हाथ में ही था, को उत्तेजना में दबाया। सुनीता भी परदे के दृश्य इतने कामोत्तेजक थे की सुनीता भी उनका हाथ हटा नहीं सकी। सुनीता के मनमें कई उफान उठ रहे थे। कर्नल साहब ने फिल्म को देखते हुए सुनीता का हाथ और दबाया।

हॉल में एक किनारे सिकुड़ कर बैठी हुई बेचारी सुनीता के हालात अजीब से ही थे। वह हॉल में जहां देखती थी सब जगह युगल ही युगल थे जो इन उन्मादपूर्ण दृश्यों को देख कर चोरी छुपी एक दूसरे की गोद में टांगों के बिच हाथ डालकर एक दूसरे के लण्ड या चूत को सेहला रहे थे। शर्म या औचित्य के कारण कुछ युगल अपने कपड़ों से ढके हुए उसके निचे यह सब कर रहे थे और कुछ खुल्लम खुल्ला हॉल के अँधेरे का लाभ लेकर यह सब कर रहे थे। इन दृश्यों का असर सुनीता पर भी तो होना ही था। वैसे भी सुनीता पिछले कुछ दिनों से कुछ ज्यादा ही चंचलता अनुभव कर रही थी। उसके पति ने उसे पिछली कुछ रातों से कर्नल साहब का नाम लेकर उकसाना और छेड़ना शुरू किया था।

सुनीता ने अनुभव किया की उसकी चूत गीली हो चुकी थी और फिर भी उसकी चूत में से पानी रिसना कम नहीं हो रहा था। उसको अपनी चूत में अजीब सी चंचलता और फड़कन महसूस हो रही थी। सुनीता ने अपने पति को मन ही मन कोसना शुरू किया की क्यों नहीं वह इस वक्त उनके पास बैठे? उसका मन कर रहा था की कोई उसकी दो टाँगों के बिच में और युगल की तरह ही हाथ डालकर उसकी चूत को सहलाये।

सुनीता ने एक और बैठे कर्नल साहब की और देखा तो वह बेचारे अपना फुला हुआ लण्ड जो उनके पतलून में फनफना रहा होगा उसको सम्हाल ने की नाकाम कोशिश कर रहे थे। उनकी पत्नी उनसे दूर दूसरे छोर पर सुनीता के पति सुनील के पास बैठी हुई थी। सुनीता सोचने लगी की कर्नल साहब का भी मन कर रहा होगा की उनके लण्ड को कोई सहलाये।

यह साफ़ था की कर्नल साहब परदे के दृश्य से इतने प्रभावित थे की अपने आप पर नियंत्रण नहीं रख पा रहे थे। कर्नल साहब के हाथ के हाथ से अपनी कलाई दबाते ही सुनीता के पुरे बदन में सिहरन फ़ैल गयी। उसके रोंगटे खड़े हो गए। वह एक अजीब उधेड़बुन में फँसी थी। क्या वह कर्नल साहब का हाथ वहीँ रहने दे या उसे हटा दे। सुनीता कुछ तय नहीं कर पा रही थी। शायद कर्नल साहब ने उसे सुनीता की रजामंदी समझकर उसका हाथ पकड़ा और धीरे से सरका कर अपनी दो टाँगों के बिच रख दिया और फिर अपना हाथ हटा लिया।

उधर परदे पर लड़की ने लड़के का मोटा और लंबा लण्ड अपने हाथों में लिया और उसे प्यार से सहलाने लगी। लड़का भी लड़की की पीठ, गाँड़ और जाँघों को सहलाने और टटोलने लगा। कैमरा मेन ने समंदर के किनारे छिछरे पानी में प्रेम क्रीड़ा करते हुए दोनों नंगे बदन और इर्दगिर्द के वातावरण को इतनी बखूबी फिल्माया था की हॉल में बैठे हुए सारे पुरुष दर्शकों का लण्ड खड़ा हो गया और महिला दर्शकों की चूत गीली हो गयी ।
Reply
09-13-2020, 12:19 PM,
#18
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
छोटी सी चोली के तले से निचे सुनीता की नंगी कमर के सारे उतार चढ़ाव और घुमाव इतने लुभावने एवं कामुक थे की कर्नल साहब की नजरें वहाँ से हटने का नाम नहीं ले रही थीं। स्कर्ट का छोर घुटनों से काफी ऊपर होने के कारण सुनीता की मुलायम, सपाट, सुआकार और चिकनी जाँघें देखते ही बनती थी। किसी भी मर्द की नजरें जब उनपर पड़ेंगी तो जाहिर है, फिर वही समंदर के किनारे तक पहुंचकर पानी में डूब जाने वाली निराशा दिमाग पर हावी हो जाएगी।

जब सुनीता ने कर्नल साहब को देखा तो अपने चमकते दाँत खोल कर सुन्दर मुस्कान दी और दोनों हाथ जोड़ कर नमस्ते करते हुए बोली, "आपको इंतजार कराने के लिए माफ़ करें जस्सूजी।"

फिर जस्सूजी की पत्नी ज्योति की और मुड़कर उनके हाथ थाम कर बोली, "ज्योति जी आप बड़ी खूबसूरत लग रही हो।"

ज्योति ने पट से पलटवार किया और बोली, "कहर तो आप ढा रही हो सुनीता। आज तो तुम्हें देख कर कई मर्द लोग घायल हो जाएंगे।" फिर अपने पति की सुनीता के बदन पर गड़ी हुई निगाहें देख कर बोली, "तुम्हारे निचे उतरते ही घायलों की गिनती शुरू हो चुकी है।"

शायद बाकी तीनों ने ज्योति के उस कटाक्ष को सूना नहीं या फिर उसपर ध्यान नहीं दिया।

पर सुनील का पूरा ध्यान ज्योति के बदन पर केंद्रित था। कर्नल साहब की पत्नी ज्योति ने टाइट स्लैक्स और ऊपर टाइट टॉप पहन रखी थी। इससे उनके स्तनों का उभार भी अच्छे खासे मर्दों का लण्ड खड़ा करने के काबिल था। सबसे खूबसूरत ज्योति के सुआकार कूल्हे (जो की बिलकुल ही ज्यादा बड़े नहीं थे ) टाइट स्लैक्स में बड़े उन्नत बाहर निकले हुए लग रहे थे। दोनों जाँघों के बिच की दरार सुनील की आँखों को बेचैन करने में सक्षम थीं।

दोनों जनाब एक दूसरे की बीबी को पूरी कामुकता से नजरें चुराकर देख रहे थे। पर भला बीबियों से यह कहाँ छुपता? जब कर्नल साहब की बीबी ज्योति के बार बार गला खुंखारने पर भी कर्नल साहब सुनील की बीबी सुनीता के बदन पर से अपनी नजरें हटा नहीं पाए तो उस ने धीरे से अपने शौहर को अपनी कोहनी मारकर अवगत कराया की वह बाहर काफी लोग आसपास खड़े हैं और बेहतर है वह सज्जनता के दायरे में ही रहें।

सुनीता तो बेचारी ज्योति के पति जस्सूजी की लोलुप नजरें जो उसके बदन का पूरा मुआइना कर रहीं थी, उसे देखकर सकुचा और सहमा कर शर्म के मारे इधर उधर नजरें घुमा कर यह जताने की कोशिश कर रही थी की जैसे उसने कर्नल साहब की नजरों को देखा ही नहीं। उसे समझ नहीं आ रहा था की ऐसे कपडे पहनने के बाद वह अपना बदन कैसे छुपाए?

इतनी गर्मी और उमस होते हुए भी, सुनील की बीबी ज्योति ने अपने पास रखी हुई एक शाल शर्म के मारे अपने कंधे पर डाल दी और अपनी छाती को छुपाने की नाकाम कोशिश करने लगी।

उनके घर के पास ही मेट्रो स्टेशन था। जब चारों चलने लगे तो कर्नल साहब की पत्नी ज्योति ने सुनीता के पास आकर धीरे से उसकी शाल अपने हाथ में ले ली और हँस कर बोली, "इतनी गर्मीमें इसकी कोई जरुरत नहीं। तुम जैसी हो ठीक हो। तुम बला की खूबसूरत लग रही हो। आज तो मेरा भी मन कर रहा है की मैं तुमसे लिपट जाऊं और खूब प्यार करूँ। मैं भी मेरे पति की जगह होती तो तुम्हें मेरी आँखों से नोंच खाती।"

सुनील की पत्नी सुनीता ने शर्माते हुए कहा, "ज्योति जी मेरी टांगें मत खींचिए। यह वेश मेरे पति ने मुझे जबरदस्ती पहनने के लिए बोला है। मैं तो आपके सामने कुछ भी नहीं। आप गझब की खूबसूरत लग रही हो।"

जब चारों साथ में चलने लगे तो कर्नल साहब की पत्नी ज्योति सुनील के साथ हो गयी और उनसे बातें करने लगीं। सुनील की पत्नी सुनीता की चप्पल में कुछ कंकर जैसा उसे चुभने लगा तो वह रुक गयी और अपनी चप्पल निकाल कर उसने कंकर को निकाला। यह देख कर कर्नल साहब भी रुक गए। सुनील और ज्योति बात करते हुए आगे निकल गए। उन्होंने ध्यान नहीं दिया की सुनीता और कर्नल साहब रुक गए थे।

कर्नल साहब ने देखा की सुनील की पत्नी सुनीता अपनी टाँगे उठा कर अपनी चप्पल साफ़ करने में लगी थीं तो उनसे रहा नहीं गया। वह सुनीता को मदद करने के बहाने या फिर साथ देने के लिए रुक गए और जब सब कुछ ठीक हो गया तो कर्नल साहब और सुनीता भी एक साथ धीरे धीरे साथमें चलने लगे। रास्ते में कर्नल साहब सुनीता से इधर उधर की बातें करने लगे।

मेट्रो स्टेशन पर काफी भीड़ थी। सुनीता ने अपने पति और कर्नल साहब की पत्नी ज्योति को खोजने के लिए इधर उधर देखा पर वह कहीं नजर नहीं आये। जब तक कर्नल साहब टिकट ले आये तब तक एक ट्रैन जा चुकी थी। स्टेशन पर फिर भी काफी यात्री थे। शायद सुनील और कर्नल साहब की पत्नी ज्योति पिछली मेट्रो ट्रैन में निकल चुके थे।

कर्नल साहब ने सुनील को फ़ोन किया तो सुनील ने उन्हें अगली ट्रैन मैं आने को कहा। उतनी देर में स्टेशन पर फिर भीड़ हो गयी। दूसरी मेट्रो तीन मिनट में ही आ गयी और सुनीता और कर्नल साहब ट्रैन में चढ़ने लगे। थोड़ी सी अफरातफरी के कारण किसी के धक्के से एक बार सुनीता लड़खड़ाई तो कर्नल साहब ने उसे पकड़ कर अपनी बाँहों में घेर लिया और खड़ा किया।

डिब्बा खचाखच भरा हुआ था। राहत की बात यह थी की दोनों को एक साथ बैठने की जगह मिली थी। काफी भीड़ के कारण वह एक दूसरे से भींच के बैठे हुए थे। कर्नल साहब की जांघें सुनीता की जाँघों से कस कर जकड़ी हुई थीं। कर्नल साहब की कोहनी बार बार सुनीता के स्तनों को दबा रही थी। सुनीता ने भी यह महसूस किया। सुनीता कर्नल साहब को गौर से देखने लगी। कर्नल साहब शर्ट और जीन्स पहने हुए बड़े ही आकर्षक लग रहे थे। उनके शर्ट की आस्तीन मुड़ी हुई उनकी कोहनी के ऊपर तक लपेटी हुई थी। उसके ऊपर उन्होंने आधी आस्तीन वाला जैकेट पहना हुआ था। कर्नल साहब के शशक्त मसल्स बाहु के स्नायु उभरे हुए मरदाना दिख रहे थे।
Reply
09-13-2020, 12:19 PM,
#19
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
सुनीता का मन किया की वह उन बाजुओं के स्नायुओँ को सहलाकर महसूस करे। नियमित व्यायाम करने के कारण सुनीता फिटनेस की हिमायती थी। उसे कड़े बदन वाले कर्नल साहब के मरदाना बाजु आकर्षक लगे। उसने अपना हाथ कर्नल साहब के डोले पर फिराते हुए पूछ ही लिया, "जस्सूजी, आपके डोले तो वाकई बॉलीवुड हीरो की तरह हैं। क्या आप वजन उठाने की कसरत भी करते हैं?"

कर्नल साहब सुनीता की नजर देख कर थोड़े से खिसिया गए पर फिर अपने आपको सम्हालते हुए बोले, "मैं जिम में रोज एक घंटा वेट ट्रेनिंग करता हूँ।"

करीब आधे घंटे के सफर के दौरान कर्नल साहब की बाजुएँ बार बार सुनीता की छाती और स्तनों से टकराती रहीं। सुनीता को नहीं समझ आ रहा था की वह सहज रूप से ही था या फिर जान बूझकर। सुनीता को भी अपने अंदर एक अजीब सी उत्तेजना महसूस हो रही थी। उसे जस्सूजी की यह हरकत अगर जानी समझी हुई भी थी तो भी अच्छा लग रहा था। वह चुपचाप जैसे उसे पता ही नहीं था ऐसे उस हरकतों को महसूस करती हुई बैठी रही।

ना चाहते हुए भी सुनीता की नजर कर्नल साहब की टांगों के बिच बरबस ही जा पहुंची। उसके बदन में कंपकंपी फ़ैल गयी जब उसने देखा की कर्नल साहब के इतने मोटे जीन्स में से भी उनके लण्ड के खड़े हो जाने से उनके पॉंवों के बिच जैसे एक तम्बू सा फुला हुआ दिखाई पड़ रहा था। इससे सुनीता के लिए यह अंदाज करना कठिन नहीं था की कर्नल साहब का लण्ड काफी मोटा, लंबा और कड़क होगा।

कर्नल साहब की जाँघों से जाँघें टकराते हुए कहीं ना कहीं सुनील की पत्नी सुनीता मन ही मन में यह सोचने लगी की जिनकी बाँहें इतनी करारी और और जांघें इतनी सख्त हैं, जिनका बदन इतना लम्बा, पतला और चुस्त है तो उनका लण्ड कैसा मोटा और कितना बड़ा होगा! जब वह अपनी बीबी को चोदते होंगे तब वह उनके लण्ड को अपनी चूत में डलवा कर कैसा महसूस करती होगी! यह सोच कर सुनीता के बदन में एक रोमांचक सिहरन फ़ैल गयी, फिर अपने आप पर तिरस्कार करती हुई सोचने लगी, "मेरे मन में ऐसे घटिया विचार क्यों आते हैं?"

स्टेशन पर भी जब अपने पति सुनील को नहीं देखा तो सुनीता के मन में अजीब से विचार आने लगे। इधर वह कर्नल साहब के बारे में उलटा पुल्टा सोच रही थी तो कहीं ऐसा तो नहीं की सुनील कर्नल साहब की बीबी ज्योति के साथ कुछ हरकत ना कर रहें हों?

कर्नल साहब ने सुनीता का हाथ थामा और स्टेशन से जब बाहर निकले तो पाया की बारिश की बूँदाबाँदी शुरू हो गयी थी और मौसम भी कुछ ठंडा हो गया था।

सुनीता बारिश से अपने आप को बचाने की कोशिश करने लगी। यह देख कर कर्नल साहब ने अपना आधी आस्तीन वाला जैकेट खोल दिया और सुनीता के सर पर रख उसके कन्धों पर डाल दिया। दोनों ही हाथ में हाथ थामे स्टेशन से बाहर निकल कर रास्ते पर आये तब सुनीता ने अपने पति सुनील को ज्योति के साथ स्टेशन के सामने ही एक छोटी सी चाय की दूकान पर चाय पीते हुए बातें करते देखा। वह दोनों कर्नल साहब और सुनीता का इंतजार कर रहे थे।

जैसे ही सुनीता ने अपने पति सुनील और कर्नल साहब की पत्नी ज्योति को देखा की तुरंत कर्नल साहब का हाथ छुड़ा कर सुनीता फ़ौरन अपने पति सुनील के पास पहुँच कर उनसे थोड़ा सा चिपक कर खड़ी हुई।

सुनील ने अपनी पत्नी की और देखा और पूछा, "क्या बात है, जानू तुम थोड़ी परेशान सी लग रही हो?"

उसकी बात सुनकर फ़ौरन कर्नल साहब की पत्नी ज्योति ने शरारती ढंग से पूछा, "सुनीता, तुम्हें कहीं मेरे पति ने रास्ते में परेशान तो नहीं किया?"

सेहमी हुई सुनीता थोड़ा सा शर्म के मारे बोली, "नहीं दीदी ऐसी कोई बात नहीं। पर ट्रैन में बड़ी भीड़ थी।"

ज्योति और सुनील कोई बात पर कुछ बहस कर रहे थे। ज्योति ने सुनील को बिच में ही रोक कर अपने पति कर्नल साहब को पूछा, "आप दोनों चाय पिएंगे क्या?"

कर्नल साहब ने दो टिकट सुनील के हाथ में थमाते हुए कहा, "हम चाय पी कर आते हैं। आप दोनों चलिए, अपनी बातें करते रहिये पर जल्दी हॉल पहुँच कर सीट ब्लॉक कर दीजिये। हम चाय पी कर आपको जल्दी ही हॉल में मिलते हैं।"

सुनील और कर्नल साहब की पत्नी ज्योति बातें करते हुए चल दिए। हॉल में पहुँचते ही, आखिरी लाइन में कोने की चार सीट देख कर सुनील आखिरी कोने वाली सीट पर बैठ गए। उनके पास कर्नल साहब की पत्नी ज्योति बैठ गयी। उनके पीछे आने जाने की लिए पैसेज था। हॉल काफी भर चुका था। एक दो इधर उधर सीटों को छोड़ कार कहीं खाली सीटें नहीं दिख रही थीं। थोड़ी ही देर में कर्नल साहब और सुनील की पत्नी सुनीता भी पहुंच गए। सुनीता ने देखा की उसे कर्नल साहब के साथ बैठना पडेगा। तो वह अपने पति की और देखने लगी। सुनील कर्नल साहब की पत्नी ज्योति से बातें करने में मशगूल थे। सुनील ने देखा की उनकी पत्नी सुनीता उनसे कुछ इशारे कर रही थी। सुनील ने सुनीता को पीछे के पैसेज से उसको अपने पास आने को कहा। सुनीता उठ कर सुनील की सीट के पीछे आयी।

सुनीता ने अपने पति सुनील से कान में फुसफुसाते हुए कहा (जिससे ज्योति उनकी बातें ना सुन सके), "अरे मेरे साथ तो कर्नल साहब बैठेंगे। आप कहा इतनी दूर बैठ गए? आपको मेरे साथ बैठना चाहिए था ना? आप तो कह रहे थे पिक्चर सेक्सी है तो फिर मैं कर्नल साहब के पास कैसे बैठ सकती हूँ?"

सुनील ने अपनी पत्नी से बड़ी धीरज के साथ कहा, जाने मन, तुम कह रही थी ना, तुम्हें अंग्रेजी भाषा समझ ने में थोड़ी दिक्कत हो सकती है। तो कर्नल साहब और उनकी पत्नी ज्योति तुम्हारी दोनों तरफ बैठे हैं। तुम जब चाहे उनसे जो समझ ना आये वह पूछ सकती हो। जहां कर्नल साहब से पूछने में झिझक होती हो तो ज्योति जी दुसरी और बैठे हैं, उनसे पूछ लेना। वह तुम्हें सब समझा देंगे। देखो मैं भी इतनी जीभ तोड़ मरोड़ कर बोलने वाली अंग्रेजी, जैसे यह लोग पिक्चर में बोलते हैं, नहीं समझ पाता हूँ। इसी लिए मैं भी ज्योतिजी के पास बैठा हूँ।"

सुनीता को मन में शक हुआ की कहीं ऐसा तो नहीं की अपने पति सुनील ही ज्योति जी के साथ बैठने के लिए यह तिकड़म कर रहें हों? पर उस समय ज्यादा सोचने का समय नहीं था सुनीता ने फिर अपने पति के कानों में कहा, "अँधेरे में कहीं कुछ गड़बड़ हो गयी तो? तुम भी जानते हो की कर्नल साहब ज़रा ज्यादा ही रोमांटिक हैं। वह कहीं उत्तेजित हो गए तो मैं क्या करुँगी?"

सुनील ने अपनी बीबी की बातों को रद्द करते हुए कहा, "तुम क्यों सोचती हो की ऐसा कुछ होगा? और क्या हो सकता है? ज्यादा से ज्यादा वह तुम्हें छू ही लेंगे ना? उन्होंने तुम्हें इधर उधर छुआ तो कई बार है। तो फिर इतना क्यों घभड़ा रही हो? देखो, वह तुम्हारे लिए इतनी महेनत करते हैं। तो तुम क्यों इतनी परेशान होती हो? अगर मान लो उन्होंने तुम्हें कहीं छू लिया तो क्या हो जाएगा? जहां तक मैं जानता हूँ वह पैसे तो लेंगे नहीं। तो फिर और हम उनके लिए क्या कर सकते हैं? तुम निश्चिन्त हो कर बैठो। अगर तुम अब यह सीट बदलोगी तो हो सकता है उनको बुरा लगे। अगर वह नाखुश हो तो वह अच्छी बात नहीं। मेरा ऐसा मानना है की एक अच्छी विद्यार्थीनी की तरह तुम्हें उन्हें खुश रखना चाहिए और उनके साथ प्यार से पेश आना चाहिए। बाकी तुम खुद समझदार हो। जैसा तुम्हे ठीक लगे करो।"
Reply

09-13-2020, 12:19 PM,
#20
RE: DesiMasalaBoard साहस रोमांच और उत्तेजना के वो दिन
परदे पर लड़के और लड़की चुदाई करने लगे थे। कैमरा मेन इतनी खूबसूरती से पुरे दृश्य को पेश कर रहा था की हॉल में शायद ही कोई ऐसा होगा जिसको उसका असर ना हुआ हो। सुनीता की उधेङबुन जारी थी। तब सुनीता का दुसरा हाथ कर्नल साहब की पत्नी ज्योति ने पकड़ा। सुनीता ने मुड़कर ज्योति की और देखा तो सुनीता को अंदेशा हुआ की हालांकि ज्योतिजी शॉल से ढकी हुई तो थी, पर उनकी शॉल के निचे उनकी छाती पर कुछ हलचल हो रही थी। ज्योतिजी का एक हाथ सुनीता के हाथ पर था। ज्योतिजी का दुसरा हाथ दूसरी और था। तो जाहिर था की वह ज्योति की छाती पर हो रही हलचल सुनीता के पति सुनील के हाथ से ही हो रही होगी।

ज्योति ने अपने पति को सुनील जी की पत्नी और खींचते हुए महसूस किया। चाहते हुए भी वह कुछ कर नहीं सकती थी। पर दूसरी और सुनीता के पति सुनील के आकर्षक व्यक्तित्व ने उसका मन जित लिया था। सुनील जी के विचारों और उनकी लेखनी की वह दीवानी थी। जब सुनील जी का हाथ कर्नल साहब की पत्नी ज्योति ने अपनी छाती पर सरकते हुए महसूस किया तो वह रोमांच से काँप उठी। शादी के बाद पहली बार किसी गैर मर्द ने ज्योति के स्तनों को छुआ था। ज्योति सुनील जी के हाथों से अपने स्तनों को सेहलवाने से रोक ना पायी।

सुनील को ज्योति की और से कोई रोकटोक नहीं हुई तो सुनील को समझने में देर नहीं लगी ज्योतिजी चाहती थी की सुनील उनके स्तनों को सहलाये। सुनील बेबाकी से ज्योति के स्तनों को पहले हलके से सहलाने और फिर उन्हें अपनी उँगलियों से दबाने और मसलने लगा। उसे लगा की कर्नल साहब की पत्नी ने उन्हें पूरी छूट देदी थी। सुनील ने अपने दोस्त की पत्नी ज्योति का हाथ भी अपनी जाँघों के बिच में धीरे से रख दिया। एक तो पिक्चर के उन्माद भरे दृश्य, ऊपर से ज्योति की उँगलियों का सुनील के लंड के साथ उसकी पतलून के ऊपर से खेलना, सुनील के लिए भी उत्तेजना और उन्माद का विषय था।

तो दूसरे छौर पर सुनील की पत्नी सुनीता परेशान हो गयी की वह करे तो क्या करे? सुनीता के हाथ की उंगलियां कर्नल साहब के फुले हुए लण्ड की फनफनाहट को महसूस कर रहीं थीं। परदे पर अब कुछ गंभीर दृश्य आने लगे। लड़के और लड़की ने शादी कर ली थी। और दोनों बड़ी ही उछृंखलतासे अपने बैडरूम में चुदाई कर रहे थे। लड़की इतने जोर से कराह रही थी की उनका एक पडोशी युवक बेचारा लेटा हुआ उस युगल की चुदाई की कराहट सुनकर अपने हाथों से मुठ मार रहा था।

ऐसे कामोत्तेजक दृश्य देखकर सुनीता को समझ नहीं आ रही थी की वह दिल की बात सुने या दिमाग की। सुनीता की एक और कर्नल साहब थे और दूसरी और ज्योतिजी। कर्नल साहब का लण्ड ऊके पतलून में एक बड़ा सा तम्बू बना रहा था। सुनीता की उँगलियों से वह लगभग सटा हुआ था। तम्बू देख कर ही सुनीता को अंदाज हो गया था की कर्नल साहसब का लण्ड छोटा नहीं होगा। जिस तरह कर्नल साहब परदे के दृश्य देख कर मचल रहे थे साफ था की उनके लण्ड में काफी हलचल हो रही थी।

दूसरी और ज्योति जी सुनीता का हाथ दबा रही थी। सुनीता समझ गयी की ज्योति जी भी काफी गरम हो रही थी। उन्होंने सुनीता का हाथ इतनी ताकत से दबाया था की सुनीता को ऐसा लगा जैसे परदे के दृश्य के अलावा भी ज्योतिजी को कुछ कुछ हो रहा था। सुनीता ने अपने पति सुनील की और देखना चाहा पर वह साफ़ दिखाई नहीं दे रहे थे।

परदे पर दोनों पति पत्नी कार में कहीं जा रहे थे की उनकी कार का भयानक एक्सीडेंट हुआ और

उस एक्सीडेंट में लड़के को सर पर काफी चोट लगी जिसके कारण उसका मानसिक संतुलन बिगड़ गया। लड़की कार में से उछल कर बाहर गिर गयी पर उसे भी चोट आयी पर वह हॉस्पिटल में ठीक होने लगी।

उनके पडोसी युवक ने दोनों पति पत्नी की हॉस्पिटल में काफी देखभाल की। वह उनके लिए खाना लाता था और लड़की के ठीक होने पर वह उसके पति की देख भाल में पूरी रात बैठा रहता था। डॉक्टरों ने लड़की से कहा की उसके पति का मानसिक संतुलन ठीक हो सकता है अगर उसकी प्यार से परवरिश की जाए और उसे प्यार दिया जाए।

मानसिक असन्तुलन के कारण लड़की के पति की सेक्स की भूख एकदम बढ़ गयी थी। उसे सेक्स करने की इच्छा दिन ब दिन प्रबल होती जा रही थी। वह सुबह हो या दुपहर, शाम हो या रात लड़की का पति लड़की को बड़ी ही असंवेदनशीलता से यूँ कहिये की असभ्यता से चोदता था। उसके चोदने में कोमलता, प्यार और संवेदनशीलता नहीं होती थी। लड़की भी अपने पति के जुर्म इस उम्मीद में सहन कर लेती थी की कभी ना कभी वह ठीक हो जाएगा।

हॉस्पिटल से घर आने के बाद पति का व्यवहार अपनी पत्नी के साथ बड़ा ही असभ्य था। वह उसे चुदाई करते हुए मारता रहता था या फिर गालियां देता रहता था। पडोसी युवक सुनता पर क्या करता?

फिल्म में लड़की और उसके पति के चुदाई के द्रश्य भी अति उत्तेजक शैली से फिल्माए गए थे जिसके कारण देखने वालों की हालत पतली हो रही थी। सुनील ने भी कर्नल साहब की पत्नी का हाथ पकड़ा हुआ था और उसे खिंच कर अपने लण्ड पर रख दिया था। ज्योति ने सुनील का लण्ड का फुला हुआ हिस्सा पतलून के ऊपर से महसूस किया तो वह भी अपने आपको रोक ना सकी और उसने सुनील के लण्ड को पतलून के ऊपर से पकड़ कर हिलाना शुरू किया। सुनील का हाथ कर्नल साहब की बीबी ज्योति की गोद में खेल रहा था।

परदे पर हर पल बढ़ते जाते उत्तेजक दृश्य से सुनील और ज्योति की धड़कनों की रफ़्तार धीमा होने का नाम नहीं ले रही थी। सुनीलजी का हाथ अपनी गोद में महसूस कर ज्योति के ह्रदय की धड़कनें इतने जोर से धड़क रहीं थीं की ज्योति डर रही थी की कहीं उसकी नसें इस उत्तेजना में फट ना जाएँ। उसी उत्तेजना में ज्योति सुनीलजी के लण्ड को पतलून के ऊपर से ही धीरे से सेहला रही थी। शायद उसे सुनील जी को अपने मन की बात का संकेत देना था।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 262 86,323 8 hours ago
Last Post: desiaks
Lightbulb Thriller Sex Kahani - मिस्टर चैलेंज desiaks 138 1,575 8 hours ago
Last Post: desiaks
Star Hindi Antarvasna - कलंकिनी /राजहंस desiaks 133 8,450 09-17-2020, 01:12 PM
Last Post: desiaks
  RajSharma Stories आई लव यू desiaks 79 6,549 09-17-2020, 12:44 PM
Last Post: desiaks
Lightbulb MmsBee रंगीली बहनों की चुदाई का मज़ा desiaks 19 4,440 09-17-2020, 12:30 PM
Last Post: desiaks
Lightbulb Incest Kahani मेराअतृप्त कामुक यौवन desiaks 15 3,407 09-17-2020, 12:26 PM
Last Post: desiaks
  Bollywood Sex टुनाइट बॉलीुवुड गर्लफ्रेंड्स desiaks 10 1,916 09-17-2020, 12:23 PM
Last Post: desiaks
  पारिवारिक चुदाई की कहानी Sonaligupta678 24 247,309 09-13-2020, 12:12 PM
Last Post: Sonaligupta678
Thumbs Up Kamukta kahani अनौखा जाल desiaks 49 16,126 09-12-2020, 01:08 PM
Last Post: desiaks
Exclamation Vasna Story पापी परिवार की पापी वासना desiaks 198 140,025 09-07-2020, 08:12 PM
Last Post: Anshu kumar



Users browsing this thread: 15 Guest(s)