Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
04-14-2021, 12:22 PM,
#1
Star  Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
स्पेशल करवाचौथ

" रूबी प्लीज़ मान जाओ ना मेरी बात समझने की कोशिश करो "

अनूप ने ये बात लगभग गिड़गिड़ाते हुए कही थीं।

रूबी का गुस्सा तो जैसे आज सातवे आसमान पर था इसलिए वो अनूप की तरह गुस्से से पलटी तो अनूप उसकी जलती हुई लाल आंखे देखकर एक पल के लिए तो बुरी तरह से डर गया और अपने आप दो कदम पीछे हट गया। अनूप को लग रहा था जैसे अभी भगवान शिव की तरह से रूबी की तीसरी आंख खुलेगी और जलाकर भस्म कर देगी।

रूबी गुस्से से अपने मुट्ठी भींचते हुए अपने शब्दो को चबाकर बोली:" तुझे शर्म नाम कि कोई चीज हैं या नहीं, तुम अपनी खुद की पत्नी को दूसरे के नीचे लेटने की सलाह दे रहे हो। दूर हो जाओ मेरी नजरो के सामने से तुम

रूबी का ऐसा खौफनाक रूप देखकर अनूप ने वहां से निकलने में भी अपनी भलाई समझी और चुपचाप अपना बैग उठाकर ऑफिस की तरफ चल पड़ा।

अनूप श्रीवास्तव :" ये हैं अनूप, शक्ल से ही चूतिया लगते हैं और काम भी चूतियो जैसे ही हैं। उम्र करीब 47 साल, एक स्पोर्ट्स कंपनी में डायरेक्टर के पद पर हैं। घमंड तो जैसे इन्हे विरासत में मिला हैं।

रूबी:" अनूप की पत्नी, उम्र 39 साल दोनो को देखते ही लंगूर के हाथ में अंगूर वाली कहावत याद आ जाती हैं, बेहद खूबसूरत, अंग अंग से काम वासना टपकती हैं मानो रति साक्षात स्वर्गलोक से उतर आयी हों
( बाकी सब बाद में पता चलेगा)

साहिल:" दोनो का इकलौता लड़का, जो अभी 19 साल का हुआ हैं और सरकारी नौकरी की तैयारी कर रहा हैं। कद 5 फीट 11 इंच , वजन, 78 किलो, सुन्दरता में बिल्कुल अपनी मा पर गया हैं। काफी मॉडर्न हैं और अपनी फिटनेस पर बहुत मेहनत करता हैं।

जैसे ही अनूप गेट से बाहर निकला तो उसने एक बार रूबी की तरफ नफरत से देखा और गुस्से में जोर से दरवाजे को मारा मानो अपना सारा गुस्सा दरवाजे पर ही निकाल रहा हो। एक जोरदार आवाज के साथ दरवाजा बंद हो गया और अनूप भुनभुनाता हुआ बाहर निकल गया।

उसके जाते ही रूबी ने एक लम्बी आह भरी और उदास होती हुई बेड पर धम्म से गिर गई। वो अपनी यादों में डूब गई और पुराने दिनों को याद करने लगीं।

आज उसकी अनूप से शादी हुए 18 साल हो गए थे। रूबी का जन्म एक गरीब परिवार में हुआ था लेकिन उसके बाप ने मेहनत मजदूरी करके उसे पढ़ाया। उसके ना कोई भाई था और ना ही बहन, अपने मा बाप की इकलौती संतान रूबी पढ़ने में तेज थी और खेल कूद में तो उसका कोई सानी नहीं था।

ज़िला स्तर पर कबड्डी प्रतियोगिता में वो अपनी टीम की कप्तान थी तो दौड़ में भी उसने काफी सारे मेडल अपने नाम किए थे। एक दिन खेल के मैदान में ही उसकी मुलाकात अनूप से हुई और अनूप उसकी खूबसूरती का दीवाना हो गया। अनूप एक बड़े बाप की औलाद था इसलिए उसने धीरे धीरे रूबी के बाप पर एहसान करने शुरू कर दिए और उसका बाप अनूप के एहसानो के तले दबता चला गया।

धीरे धीरे अनूप का रूबी के घर आना जाना शुरू हुआ और उसकी रूबी से एक के बाद एक कई मुलाकात हुई और जल्दी ही उनमें प्यार हो गया। अनूप रूबी के उपर दिलो जान से फिदा था इसलिए उसने अमीरी गरीबी की दीवार गिराते हुए रूबी के मा बाप से रिश्ता मांग लिया। रूबी के मा बाप के लिए इससे अच्छी बात क्या हो सकती हैं इसलिए उन्होंने बिना किसी आना कानी के शादी के लिए हां कर दी और रूबी दुल्हन बनकर अनूप की ज़िन्दगी में अा गई।

रूबी ने दिल खिलाकर अनूप पर अपना प्यार लुटाया और दोनो की ज़िन्दगी खुशियों से भर गई। इस खुशी को उनके बेटे साहिल के पैदा होने से जैसे पंख लग गए और बस अब तो जैसे रूबी जिधर भी नजर उठाती उसे बस खुशियां ही खुशियां नजर आती।

धीरे धीरे उनका बेटा साहिल बड़ा होता गया। जैसे जैसे साहिल बड़ा होता गया रूबी की ज़िन्दगी से खुशियां भी दूर होती चली गई। अनूप को एक बिजनेस डील में बहुत बड़ा नुकसान हुआ और अनूप टूटता चला गया। रूबी ने उसे संभालने की पूरी कोशिश करी लेकिन अनूप को दारू की लत लग गई। धीरे धीरे अनूप ने फिर से अपना काम शुरू किया और जल्दी ही फिर से अपना खोया हुआ मुकाम और इज्जत हासिल कर ली लेकिन तब तक उसके दोस्त और साथ काम करने वाले काफी चेहरे बदल चुके थे और अनूप को दारू के साथ जुआ खेलना और लड़कियों के साथ रात बिताना जैसी कई गंदी आदते लग गई थी।

रूबी ने उसे समझाने की हर संभव कोशिश करी, अनूप ने बड़ी बड़ी कसमें खाई लेकिन सब की सब झूठ साबित हुई जिसका नतीजा ये हुआ कि अनूप रूबी की नजरो में गिरता चला गया। अनूप रोज दारू पीकर आता और रूबी की टांगे खोलता और उसके ऊपर चढ़ जाता, उसकी गलत आदतों का असर उसके जिस्म पर पड़ा और वो बस लंड घुसा कर दो चार धक्के बड़ी मुश्किल से मारता और ढेर हो जाता। रूबी को उसके मुंह से दारू की बदबू आती लेकिन वो ना चाहते हुए भी सब कुछ बर्दाश्त कर रही थी।

एक दिन तो जैसे हद ही हो गई। रूबी को अच्छे से याद हैं कि उस दिन रूबी का जन्म दिन था और अनूप ने अपने दोस्तो को एक होटल में पार्टी थी दी। नीरज ने उस दिन पहली बार रूबी को देखा और उसका दीवाना हो गया और उसने रूबी को हीरे की एक खुबसुरत अंगूठी गिफ्ट में दी थी। हमेशा की तरह अनूप ने उस दिन भी जी भर कर दारू पी और टन्न हो गया। नीरज नाम का दोस्त जो कि अनूप का बिजनेस पार्टनर भी था अनूप को उठाकर घर ले आया और उसके बेड पर लिटा दिया। रूबी अनूप के जूते निकाल रही थी जिससे उसकी साड़ी का पल्लू नीचे गिर गया था और उसकी मस्त गोल गोल चूचियो का उभार नीरज की आंखो के सामने अा गया और उसने रूबी को एक कामुक स्माइल दी तो रूबी उसे आंखे दिखाती हुई कमरे से बाहर चली गई थी।

नीरज ने उस दिन के बाद अनूप पर एक के बाद काफी एहसान किए और अनूप उसके एहसानो के कर्स में डूबता चला गया और एक दिन उसने अनूप को अपने मन की बात बता दी कि वो उसकी बीवी रूबी का दीवाना हो गया हैं। एक रात के लिए वो रूबी को मेरे साथ सोने दे।

अनूप को गुस्सा तो बहुत आया लेकिन जब नीरज ने उससे अपना कर्ज मांगा तो अनूप बगल झांकने लगा और चुप हो गया। नीरज ने उसे बहुत बड़ी बड़ी बिजनेस डील कराने का लालच दिया और अनूप लालच में अा गया। वो पिछले दो साल से रूबी को किसी भी तरह से नीरज के साथ सोने के लिए राज़ी करना चाह रहा था लेकिन रूबी को किसी भी सूरत में अपने चरित्र पर दाग लगाना मंजूर नहीं था।

आज सुबह भी उनकी इसी बात पर लड़ाई हुई और नतीजा वही हुआ जो पिछले दो साल से हो रहा है और अनूप अपनी बेइज्जती कराके चल गया।

ये सब याद करके रूबी की आंखे भर आई और उसकी आंखो से आंसू बह चले। तभी उसे अपने गालों पर हाथो का एहसास हुआ तो उसने देखा कि उसके घर की नौकरानी शांता उसके आंसू साफ कर रही थी।

शांता:" क्या हुआ बेटी? आज फिर से तेरी इन खूबसूरत आंखो में आंसू किसलिए ?

रूबी को लगा जैसे शांता ने उसके जख्मों को कुरेद दिया हो और उसकी जोर जोर से रुलाई फुट पड़ी और वो शांता के गले लगती हुई सुबक पड़ी।

शांता उसकी पीठ सहलाते हुए बोली:" आज भी नहीं बताएगी क्या बेटी ? देख रही हूं पिछले दो साल से तुझे कोई समस्या अंदर ही अंदर खाए जा रही है लेकिन तू अपना मुंह तक नहीं खोलती।

रूबी रोती रही और शांता उसे तसल्ली देती रही लेकिन रूबी के मुंह से एक शब्द तक नहीं निकला। थोड़ी देर के बाद रूबी के आंसू सूख गए तो वो घर के काम में लग गई।

शांता के दिल में रूबी के लिए बड़ी हमदर्दी थी। कहने के लिए तो वो इस घर की नौकरानी थी लेकिन अनूप की छोटी सी उम्र में मा गुजर जाने के बाद उसने है अनूप को पाल पोस कर बड़ा किया था इसलिए रूबी हमेशा उसे एक सासू जितनी इज्जत देती थी।

रूबी के लिए बस हफ्ते में दो दिन के लिए जैसे खुशियां लौट आती थी क्योंकि उसका बेटा साहिल दो दिन के लिए छुट्टी आता था और शनिवार और रविवार घर पर ही रहता था।

आज शुक्रवार था और रात में करीब 9 बजे तक साहिल घर अा जाता था। वैसे तो रोज घर का खाना शांता बनाती थी लेकिन रूबी अपने बेटे के लिए खुद अपने हाथ से आलू पूड़ी और रायता बनाया करती थी जो कि उसके बेटे की पसंदीदा डिश थी।
Reply

04-14-2021, 12:22 PM,
#2
RE: Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
रूबी को घर के काम में लगे लगे दोपहर हो गई और शांता तब तक खाना बना चुकी थी। शांता ने खाना टेबल पर लगा दिया और रूबी को आवाज लगाई

" अरे रूबी बेटी अा जाओ खाना खा लो, खाना तैयार हो गया हैं।

रूबी का मन खाने का बिल्कुल भी नहीं था इसलिए वो कमरे में से ही बोली:"

" ताई जी आप खा लीजिए मुझे भूख नहीं हैं, जब मन होगा मैं खा लुंगी।

शांता समझ गई कि रूबी अनूप का गुस्सा खाने पर निकाल रही हैं इसलिए उसने एक थाली में खाना रखा और रूबी के कमरे में पहुंच गई तो देखा कि रूबी उदास होकर आंखे बंद किए हुए लेटी हुई है और उसके चेहरे पर उभरी हुई दर्द भरी रेखाएं बिना बोले ही उसका सब दर्द बयान कर रही है।

रूबी अपने विचारो में ही इतना ज्यादा खो गई थी कि उसे शांता के अंदर आने का एहसास ही नहीं हुआ।
शांता ने थाली को टेबल पर रख दिया और रूबी का प्यार से गाल सहलाते हुए बोली:"

" चलो बेटी उठो और खाना खा लो देखो मैंने कितनी मेहनत से तुम्हारे लिए बनाया हैं।

शांता ताई के हाथो के स्पर्श से और उनकी आवाज़ से रूबी की आंखे खुल गई। रूबी जानती थी कि शांता बहुत जिद्दी हैं और आज मैं फिर से उसकी जिद के आगे हार जाऊंगी इसलिए वो अपने सारे दर्द और गम छुपाते हुए अपने चेहरे पर स्माइल ले आई और बोली:"

" ठीक हैं ताई जब आप इतना जिद कर रही हो तो थोड़ा सा तो खाना ही पड़ेगा मुझे।

शांता की इच्छा थी कि रूबी उसे मा कहकर पुकारें क्योंकि शांता की कोई संतान नहीं थी और वो रूबी को बिल्कुल अपनी बेटी की तरह मानती थी लेकिन कभी अपनी जुबान से नहीं कह पाई।

रूबी द्वारा ताई बुलाए जाने की पीड़ा शांता के चेहरे पर उभरी लेकिन हमेशा की तरह उसने आज भी अपनी पीड़ा को स्माइल के पीछे छुपा लिया और बोली:"

" थोड़ा सा क्यों पेट भर खिलाऊंगी तुझे, एक तू ही तो मेरी प्यारी बिटिया हैं रूबी।

शांता ने खाने का निवाला बनाया और रूबी की तरफ बढ़ा दिया तो रूबी ने अपना मुंह खोलते हुए निवाला खा लिया और खुशी के मारे उसकी आंखे भर आई और बोली:"

" शांता ताई आप मेरा इतना ध्यान क्यों रखती हैं? जरूर आपका और मेरा कोई पिछले जन्म का रिश्ता रहा होगा

शांता के होंठो पर मुस्कान अा गई और दूसरा निवाला बनाते हुए बोली:" बेटी मैं तो अपना फ़र्ज़ निभा रही हूं, अगर आज मेरी बेटी ज़िंदा होती तो मैं बिल्कुल इसी तरह उसका खयाल रखती।

ये बात कहते कहते शांता का गला भर्रा गया और उसने बड़ी मुश्किल से रूबी को निवाला खिलाया और रूबी खाना खाते हुए उसकी आंखे साफ करने लगी और बोली:

" आप अपनी बेटी को बहुत प्यार करती थी ना ताई ?

अपनी बेटी को याद करके शांता के हाथ कांपने लगे और उससे निवाला नहीं बन पा रहा था तो रूबी बोली:"

" ताई आप रहने दीजिए मैं खुद खा लूंगी और रोज आप मुझे खाना खिलाती हैं चलो आज मैं आपको खिलाती हूं।

इतना कहकर रूबी ने निवाला बनाया और शांता के मुंह से लगा दिया तो शांता ने रूबी की तरफ हैरत से देखते हुए अपना मुंह खोल दिया और शांता खाना खाने लगीं।

दोनो एक दूसरे को खाना खिलाने लगी तभी एक शैतान की तरह अनूप की घर में एंट्री हुई और गुस्से से बोला:"

" रूबी तुम जाहिल की जाहिल ही रहोगी तुम अपने मान सम्मान और प्रतिष्ठा की जरा भी कद्र नहीं है, एक नौकरानी के हाथ से खाना खाते हुए तुम्हे शर्म नहीं आती ?

शांता डर के मारे बेड से उतर गई और रोटी हुई धीरे धीरे कमरे से बाहर जाने लगी तो रूबी का खून खौल उठा और वो गुस्से से बोली:"

" अनूप जिसे आज तुम नौकरानी कह रहे हो मत भूलो कि तुम उसकी ही गोद में खेलकर बड़े हुए हो।

अनूप अपनी आधी अधूरी मुंछो पर ताव देते हुए बोला:"

" जब बच्चा छोटा होता हैं तो एक कुत्ते का पिल्ला भी उसका मुंह चूमकर भाग जाता हैं इसका मतलब ये नहीं कि बड़ा होने पर हम उसे सिर पर बिठाए।

रूबी शांता ताई की तुलना कुत्ते के पिल्ले से किया जाने पर एकदम से आग बबूला हो गई और बोली:"

" बस अपनी जुबान को लगाम दे अनूप, अगर एक बुरा शब्द शांता ताई के बारे में और बोला तो मैं ये घर हमेशा हमेशा के लिए छोड़कर चली जाऊंगी।

अनूप की सिटी पित्ती घूम हो गई और जुबान को जैसे लकवा मार गया क्योंकि वो जानता था मरते वक़्त उसकी मा की ये अंतिम इच्छा थी कि जो भी लड़की इस घर में बहू बनकर आए ये घर उसके नाम कर दिया जाए क्योंकि वो अपने पति के ज़ुल्म सह चुकी थी और जानती थी कि उसकी नस्ल उससे भी ज्यादा कमीनी होगी।

अनूप के मुंह धीरे से खुला और इस बार उसके शब्दो में शहद जैसी मिठास थी

" रूबी मेरा मकसद शांता ताई को नीचा दिखाना नहीं था, मैं तो बस ये चाह रहा था कि तुम अपने स्टैंडर्ड का ध्यान रखो।

रूबी:" मैं कोई दूध पीती बच्ची नहीं हूं अनूप, सब समझती हूं, तुम पहले अपना खुद का स्टैंडर्ड देखो और फिर मुझसे स्टैंडर्ड की बात करना।

अनूप रूबी से ज्यादा बहस नहीं करना चाहता था इसलिए वो फाइल ढूंढने लगा जिसे लेने के लिए आज वो अचानक से अा गया था। आमतौर पर वो रात को 8 बजे तक ही आता था। अनूप ने अपनी अलमारी से फाइल निकाली और एक तेज नजर रूबी पर डालते हुए चला गया। थोड़ी देर बाद ही उसकी गाड़ी स्टार्ट होने की आवाज आईं और रूबी सीमा को ढूंढने में लग गई। शांता ऊपर छत पर जाने वाली सीढ़ियों के पास बैठ कर रो रही थी। ये देखकर रूबी का दिल भर आया और वो बोली:"

" अरे ताई आप यहां बैठी हुई है और मैं आपको सारे घर में ढूंढ रही थी, अा चलो।
Reply
04-14-2021, 12:22 PM,
#3
RE: Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
शांता ने आंसुओ से भीगा हुआ अपना चेहरा उपर उठाया और बोली:" बस कर बेटी, मैं गरीब और कमजोर कहां तुम्हारे पति के स्टैंडर्ड के बराबर हूं , पता नहीं भगवान बुढ़ापे में मेरी और कितनी बेइज्जती कराएगा।

रूबी:" बस कीजिए ताई, आप उनकी बातो को दिल से मत लगाए, उनका तो काम हैं उल्टी सीधी बात करना।

शांता:" बेटी मैं जानती हूं कि तुम ये सब सिर्फ मुझे तसल्ली देने के लिए कह रही हो।

रूबी शांता की बाते सुनकर आहत हुई लेकिन बोली:"

" ताई आपने तो आज पहली बार ये सब झेला हैं और मुझे देखो मैं तो रोज इससे ज्यादा बर्दाश्त करती हूं, बस करो ताई आओ चलो खाना खाते हैं।

शांता को एहसास हुआ कि रूबी सच बोल रही है क्योंकि वो सच में अनूप से सबसे ज्यादा परेशान हैं इसलिए उसका गुस्सा कुछ कम हुआ और बोली:"

" बेटी अगर अनूप की मा को मैंने अपनी आखिरी सांसें तक इस घर में रहने का वचन ना दिया होता तो मैं कब का ये घर छोड़कर चली गई होती।

रूबी:" बस करो ताई, अगर आपकी सगी बेटी होती तो क्या आप उसे भी छोड़कर चली जाती?

शांता की आंखो के आगे अपनी बेटी का मासूम सा चेहरा याद अा गया और उसे रूबी में उसकी बेटी नजर आईं और शांता भावुक होते हुए बोली:"

" जरूर चली जाती अगर वो भी मुझे तेरी तरह ताई कहकर बुलाती!!

आखिर कार आज शांता का दर्द शब्द बनकर उसकी जुबान पर आ गया और रूबी शांता की बात सुनकर तेजी से दौड़ती हुई उसके गले लग गई और बोली:"

" मा मुझे माफ़ कर दो, मा मैं आज तक आपके प्यार को नहीं समझ पाई, आज के बाद मैं आपको कभी ताई कहकर नहीं बुलाऊंगी।

शांता ने रूबी को अपने गले लगा लिया और बोली:"

" बस कर मेरी बच्ची तू तो वैसे ही इतना रोटी हैं और कितना रोएगी, चल अा जा दोनो खाना खाते हैं।

उसके बाद दोनो कमरे में चली गई और एक दूसरे को खाना खिलाने लगी।

रूबी:"मा आप आज शाम से आराम करना क्योंकि आज साहिल अा जाएगा और आप तो जानती ही हैं कि उसे मेरे हाथ से बना खाना कितना पसंद हैं

शांता:" ठीक है बेटी जैसे तुझे ठीक लगे, लेकिन बेटी ध्यान रखना कि कहीं साहिल भी अपने बाप पर ना चला जाए क्योंकि उसकी रगो में भी उसका ही खून हैं रूबी।

रूबी को शांता की बाते सुनकर एक पल के लिए चिंता हुई लेकिन अगले ही पल वो आत्म विश्वास के साथ बोली:"

" मा बेशक उसकी रगो में अनूप का खून हैं लेकिन उसने मेरा दूध भी तो पिया हैं और मुझे यकीन हैं कि मेरा दूध उसके खून पर जरूर भारी पड़ेगा।

शांता :" भगवान करे ऐसा ही हो बेटी, तेरा बेटा तुझ पर ही जाए।

शांता ने रूबी का खूबसूरत चेहरा अपने हाथों में भर लिया और उसका माथा चूम कर बोली:"

" अच्छा बेटी मैं चलती हूं अगर कोई जरूरत पड़े तो मुझे आवाज लगा देना मैं नीचे से अा जाऊंगी

रूबी :" ठीक हैं मा, आप आराम कीजिए।

शांता धीरे धीरे चलती हुई नीचे चली गई घर के सामने पड़ी हुई जगह में बने हुए सर्वेंट क्वार्टर में घुस गई।

अनूप का घर काफी अच्छा बना हुआ था और आस पास कॉलोनी में ऐसा घर नहीं था। बाहर एक बड़ा सा घास का मैदान जिसके एक तरफ से अंदर घर की तरह जाता हुआ रास्ता, रास्ते के दोनो ओर लगे हुए खुबसुरत फूल , घर के ठीक बाहर रखे हुए विदेशी गमले घर के अंदर की गरिमा को बाहर से ही बयान कर रहे थे।

एक बड़ा सा गेट जो 316 स्टेनलेस स्टील से बना हुआ, अंदर घुसते ही एक बड़ा सा हॉल जिसमे एक बेहतरीन डिजाइन का डबल बेड, सामने पड़े हुए सोफे और हॉल की खिड़कियों पर पड़े हुए सुंदर पर्दे मानो खींच खींच कर खुद ही अपनी उच्च गुणवत्ता की दास्तां कह रहे थे। हॉल में सामने लगी हुई एक 48 इंच की एलईडी, हॉल से जुड़े हुए अलग अलग तीन कमरे जो बहुत ही सुन्दर बने हुए थे। हॉल में उपर की तरफ जाती सीढ़ियां जो फर्स्ट फ्लोर पर जा रही थी। उपर बने हुए चार कमरे, जिनमें एक दोनो का बेडरूम और बीच में सुंदर सी गैलरी जिसके आखिर में अंतिम कमरा बना हुआ था जो साहिल के लिए था जिसके बाद बाथरूम बना हुआ था।

कमरों के सामने ही किचेन बना हुआ था। किचेन के पास से उपर सेकंड फ्लोर पर जाने के लिए सीढ़ियां और छत पर बना एक छोटा सा कमरा । छत के चारो तरफ ऊंची ऊंची दीवार।

कुल मिलाकर रहने के लिए जन्नत से कम नहीं लेकिन अनूप ने अपनी बेवकूफी की वजह से इसे किसी नरक में तब्दील कर दिया था

शाम हो चुकी थी इसलिए रूबी अपने बेटे साहिल के लिए खाना बनाने के लिए किचेन में घुस गई और उसकी पसंद की चीज़े बनाने में जुट गई। जल्दी ही उसने आलू बनाए और फिर बरतन उठाकर रायते की तैयारी में लग गई।

रायता बनने में ज्यादा देर नहीं लगी और उसने सलाद के लिए सभी सामान जैसे मूली, खीर, प्याज , नींबू सब निकाल कर एक प्लेट में रख दिया ताकि साहिल के आने के बाद ताजा सलाद काट सके।

सभी सामान तैयार हो गया था बस पूड़ी और सलाद उसने ताजा ही बनाना था। उसने अपने बेटे का नंबर डायल किया और उधर से साहिल ने फोन पिक किया और बोला:"

" जी अम्मी कैसी हैं आप ? मैं रास्ते में हूं। आपके बताए अनुसार पहले मै सड़क पर कुत्तों को खाना खिलाऊंगा, फिर अनाथ आश्रम में जाकर आपके पैसे उधर दूंगा, उसके बाद मंदिर में पूजा करने के बाद करीब 30 मिनट बाद घर अा जाऊंगा।
Reply
04-14-2021, 12:22 PM,
#4
RE: Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
रूबी की हंसी छूट गई और बोली:" बेटा तुमने तो सब कुछ जैसे याद कर लिया हैं।

साहिल:" मम्मी आप जो भी मुझे सिखाती हैं वो मेरे लिए एक गाइड लाइन की तरह से होता हैं जिस पर मुझे अपनी ज़िन्दगी बितानी हैं

रूबी के होंठो पर स्माइल आ गई और बोली:" सच में बेटा तुम दुनिया के सबसे प्यारे बेटे हो, अपनी मा की सभी बाते मानते हो साहिल।

साहिल अपनी तारीफ सुनकर खुश हुआ और बोला:"

" मम्मी आप भी तो मुझे सब कुछ सही से समझाती हैं, मुझे खुशी होती हैं कि मैं आपका बेटा हूं।

साहिल ने ये बात दिल से कहीं थी और उसकी ये बात रूबी के दिल को छू गई और बोली:"

" मेरा बेटा आजकल बहुत बड़ी बड़ी बाते करने लगा हैं। लगता हैं जरूरत से ज्यादा समझदार हो गया हैं वक़्त से पहले ही।

साहिल:" मम्मी बिल्कुल आप पर ही तो गया हू मैं, सब कुछ आपसे ही सीखा हैं।

रूबी:" अच्छा चल चल ठीक हैं, जल्दी से आ अब सारे काम खत्म करके मैं तेरा इंतजार कर रही हूं।

इतना कहकर रूबी ने कॉल कट कर दिया और सोचने लगी कि उसका बेटा बिल्कुल अपने बाप पर नहीं गया हैं। रूबी को खुशी हुई कि वो अपने मकसद में कामयाब हो रही है और उसका बेटा एक घमंडी नहीं बल्कि अच्छा इंसान बन रहा हैं ।

साहिल अनाथ आश्रम में गया और उसने सभी बच्चो को चॉकलेट बांटी और फिर आश्रम मालिक को पैसे दिए जो कि हर हफ्ते उसकी मम्मी उसके ही हाथ से दिलाया करती थी।

थोड़ी देर बाद साहिल मंदिर में भगवान की मूर्ति के आगे दोनो हाथ जोड़कर आंखे बंद किए हुए खड़ा था। उसके मन में अपार श्रद्धा थी और मन ही मन बोला:"

" है भगवान, आपने मुझे सब कुछ दिया हैं और मेरी मम्मी गरीबों की इतनी मदद करती हैं, आपसे बस ये ही प्रार्थना हैं कि मैं भी अपनी मम्मी के नक्शे कदम पर चलू और आप मेरी मम्मी की ज़िन्दगी से सब दुख दर्द दूर कर दो है भगवान।

इतना कहकर उसने अपना सिर झुकाया और घर की तरफ चल दिया। जल्दी ही वो घर पहुंच गया और रूबी को देखते ही उसने अपनी मम्मी को प्रणाम किया और उनके पैर छुए! रूबी ने उसे आशीर्वाद दिया और अपने गले लगा लिया।

साहिल अपनी मम्मी की बांहों में समा गया और रूबी अपने बेटे को प्यार से दुलारने लगी।

रूबी:" देख कितना कमजोर सा हो गया है एक हफ्ते के अंदर ही, बेटे तुम वहां ठीक से खाना नहीं खाते हो क्या ?

साहिल उसके सीने से लगे हुए ही बोला :" मम्मी खाता तो हूं लेकिन जो स्वाद और ताकत मा के हाथ के खाने में होती हैं वो बाहर कहां मिलेगी, अब दो दिन तक सिर्फ आपके हाथ का बना खाना खाऊंगा।

रूबी उसके गाल को खींचते हुए बोली:" दो दिन में तू कितना खा जाएगा बेटा, मेरे साथ अच्छी मजाक करता हैं।

साहिल भी स्माइल करते हुए बोला:" मम्मी जितना कमजोर पिछले पांच दिन में हुआ हू इतना तो खा ही सकता हूं।

रूबी अपनी आंखे नचाती हुई बोली:" अच्छा मेरी बात मुझ पर ही मार रहा हैं तू, बड़ा तेज हो गया हैं।

साहिल:" मम्मी देखो ना मैं कहां से कमजोर हू, अच्छा खासा तो दिखता हू, फिर भी आप हर बार ये ही उलाहना देती हो मुझे।

रूबी:" बेटा मा की नजर अपने बेटे को दुनिया का सबसे ताकतवर बेटा बनते हुए देखना चाहती हैं, और मै भी चाहती हूं कि मेरा शक्तिशाली बने।

साहिल समझ गया कि वो बहस में अपनी मा से नहीं जीत सकता इसलिए बोला:"

" ठीक हैं मम्मी, आप खिलाओ मुझे मैं सब खा जाऊंगा।

रूबी खुश हो गई और बोली:"

" ऐसे कैसे खा जाओगे, जाओ पहले नहाकर आ जाओ, इतना तक मैं सलाद काट देती हूं। तुझे पता हैं मैंने क्या बनाया हैं आज ?

साहिल का चेहरा खुशी से चमक उठा और बोला:"

" मेरा पसंदीदा आलू पूड़ी और रायता। बस मैं अभी गया और अभी नहा कर आया।

साहिल ने अपने कपड़े और बाथरूम में घुस गया। थोड़ी देर बाद ही फ्रेश होकर आ गया और देखा कि रूबी सलाद काट रही हैं तो बोला:

" लाओ मम्मी मैं आपकी मदद कर दू

तो रूबी हंसते हुए हुए बोली

" बड़ी जल्दी नहाकर आ गए हैं लगता हैं बहुत भूख लगी हैं, जाओ तुम टेबल पर बैठो, मैं गर्म गर्म पूड़ी लेकर आती हूं।

साहिल सामने ही कमरे में रखी डाइनिंग टेबल पर बैठ गया और रूबी रायता और आलू की सब्जी के साथ सलाद लेकर आ गई और रायता के भिगोने का ढक्कन हटाकर देखने लगी।

रायता से बहुत अच्छी खुशबू आ रही थी तो सूंघती हुई बोली:"

" वाव कितनी अच्छी खुशबू आ रही है साहिल,

रूबी के बाल उसके खूबसूरत चेहरे के दोनो तरफ बिखरे हुए थे और वो बहुत खूबसूरत लग रही थी। साहिल बोला:"

" मेरी मम्मी बनाएगी तो टेस्टी तो बनेगा ही ना

रूबी अपनी तारीफ सुनकर खुश हो गई और गर्म हो चुके तेल में पुड़िया तलने लगी। उसने गर्म गर्म पूड़ी साहिल को खिलानी शुरू कर दी तो साहिल एक के बाद एक पूड़ी खाता गया और रूबी खुशी खुशी पूड़ी बनाती गई।
Reply
04-14-2021, 12:22 PM,
#5
RE: Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
साहिल:" बस मम्मी और मत लाना, मेरा पेट भर गया हैं

रूबी:" अभी तूने ठीक से खाया भी नहीं और बोलता हैं कि पेट भर गया।

रूबी बोलती हुई आई और दो पूड़ी और उसकी प्लेट में रख गई।साहिल मना करता रह गया जबकि रूबी स्माइल करती हुई फिर से किचेन में घुस गई।

साहिल:" मम्मी देखो ना मैं पहले ही पर भर खा चुका हूं, अब कैसे खाऊ आप ही बताओ।

खा लो बेटा तुम बहुत खुश किस्मत हो जो तुम्हे जबरदस्ती खाना खिलाया जा रहा हैं और एक हम हैं जिन्हें ठीक से खाना खाए बहुत टाइम हो गया है।

अनूप की आवाज सुनकर साहिल ने अपने बाप को नमस्ते किया और बोला:"

" ऐसा क्यों बोलते हो पापा, मम्मी तो देखो कितने प्यार से खाना खिलाती हैं।

अनूप लगभग ताना मारते हुए बोला:" बेटा वो तो तुम्हे खिला रही है, मुझे पता नहीं कब खिलाएगी ?

रूबी अपने बेटे के सामने कोई हंगामा नहीं करना चाहती थी इसलिए बोली:"

" जाइए आप भी हाथ धोकर जल्दी से आ जाइए।

अनूप चेहरे को एक स्माइल लिए बाथरूम चला गया और जल्दी ही फ्रेश होकर साहिल के पास बैठ गया जो एक पूड़ी तो खा चुका था जबकि कभी दूसरी पूड़ी तो कभी अपने पेट को देख रहा था।

रूबी अंदर से अनूप के लिए खाना लेकर आ गई और अनूप ने भी खाना शुरू कर दिया। रूबी साहिल की हालत देखकर मुस्करा उठी और बोली:"

" जल्दी खा ना देर क्यों कर रहा हैं इस उम्र में नहीं खाएगा तो कब खाएगा ?

साहिल ने धीरे से पूड़ी उठाई और रूबी खुश होकर फिर से किचेन में चली गई और कुछ पुड़िया लेकर आ गई और देखा कि साहिल अभी तक हाथ में पूड़ी लिए बैठा हुआ हैं।

रूबी:" रुक बेटे तुझे मैं दिखाती हू कि खाना कैसे खाया जाता हैं?

इतना कहकर उसने साहिल के हाथ से पूड़ी ली और निवाला बनाकर उसके मुंह में लगभग ठूस दिया तो साहिल जैसे तैसे करके खाने लगा और मदद भरी नजरो से अपने बाप की तरफ देखा तो आज उसकी हालत देख कर अनूप भी मुस्कुरा उठा, पता नहीं कितने सालों के बाद उसके होंठो पर स्माइल आई थी।

अनूप:" बस भी करो रूबी, उसका पेट भर गया हैं!!

रूबी:" आप खाना खाईए आराम से, आपको तो जैसे इसकी चिंता बिल्कुल भी नहीं है, देखो ना कितना कमजोर हो गया है।

अनूप की दूसरी बार बोलने की हिम्मत नहीं हुई और आराम से खाना खाने लगा। साहिल को जब कोई रास्ता नहीं मिला तो थक हार कर जैसे तैसे उसने वो आखिरी पूड़ी भी खा ली।

दोनो को खाना खिलाने के बाद रूबी ने भी खाना खाया और अनूप अपना लैपटॉप लेकर काम करने लगा।

साहिल:" मम्मी मैं थोड़ी देर छत पर टहल कर आता हूं, आपने इतना ज्यादा खिला दिया हैं अब घूमकर ही पचाना पड़ेगा।

रूबी जो किचेन में बर्तन धो रही थी बोली:" अच्छा तुम चलो, मैं भी थोड़ी देर बाद आती हूं उपर।

साहिल छत पर आ गया और उसे उपर बहुत ही ठंडी ठंडी हवा लग रही थी क्योंकि छत का पीछे वाला हिस्सा खुला हुआ था और उधर से हवाएं आ रही थी।

साहिल दिल्ली जैसे मेट्रो सिटी में रह रहा था और सप्ताह में दो दिन के लिए मेरठ आता था। दिल्ली में दोस्तो के साथ रह रह कर वो सेक्सी मूवी देखना, लड़कियों के जिस्म के बारे में सब कुछ सीख गया था।

ठंडी ठंडी हवाएं अपना जादू दिखाने लगी और साहिल के अंदर तरंगे उठने लगी। तभी साहिल के दोस्त आरव का फोन आ गया तो उसने उठाया और बोला:"

" हा भाई कैसा हैं तू ?

आरव:" पूछ मत यार आज मैं बहुत खुश हूं,

साहिल:" अरे ऐसा क्या हो गया भाई, कुछ बता तो यार मुझे भी ?

आरव:" अरे वो सामने वाली भाभी हैं ना हमारे कमरे के सामने ?

साहिल को भाभी की याद आ गई और बोला:"

" अच्छा तो रेखा भाभी , हां तो क्या हुआ ?

आरव:" तू तो जानता ही है कि मैं उस पर लाइन मारता था, आज उसने मुझे अपने घर बुलाया था

साहिल को आरव से जलन महसूस हुई क्योंकि चोरी छिपे वो भी रेखा पर लाइन मारता था, साहिल बोला:"

" फिर क्या हुआ भाई ?

आरव की खुशी में डूबी हुई आवाज गूंजी:"

" होना क्या था मैं गया उसके घर, उसने बोला कि मैं उसके बेटे को ट्यूशन पढ़ा दू, ।

साहिल के होंठो पर स्माइल आ गई और उसके लंड ने एक हल्का सा झटका खाया और बोला:"

" वो तो गई काम से, भाई तेरे जैसे कमीने को मैंने जानता हूं, तू उसके बेटे को कम और उसे ज्यादा पढ़ाएगा वो भी सेक्सोलॉजी

आरव:" भाई ये तारीफ थी या बेइज्जती कुछ समझ नहीं आया !!

साहिल:" जो तेरा मन करे समझ ले भाई।

उसके बाद दोनो दोस्त एक साथ जोर जोर से हंसने लगे। साहिल अपनी हंसी रोकते हुए बोला:"

" तो फिर पढ़ाई शुरू करी या नहीं तूने रेखा भाभी की ?

आरव:" अरे भाई वो तो मेरे से भी ज्यादा तेज निकली, बार बार मेरे सामने ही अपनी साड़ी का पल्लू नीचे गिरा रही थी।

साहिल की सांसे थोड़ी तेज होने लगी और बोला:"

" फिर तो तूने खूब अपनी आंखे गरम करी होगी उसकी गोलाईयों को देखकर !!

आरव:" हान भाई, सच में बड़े गोरी गोरी, गोल गोल कबूतर हैं उसके साहिल।

साहिल को आरव के स्वर में उत्तेजना साफ महसूस हुई जिसका असर साहिल पर साफ हुआ और उसके लोअर में एक अच्छा खासा तम्बू बन गया और वो बोला:"

" आगे क्या हुआ, बोल ना भाई रुक क्यों गया ?

आरव समझ गया कि उसकी बाते सुनकर साहिल गरम हो गया है इसलिए स्माइल करते हुए बोला:"

" क्या हुआ लंड खड़ा हो गया तेरा कमीने?

साहिल को लगा जैसे उसकी चोरी पकड़ी गई हो और एक हाथ अपने लंड पर रखकर दिया और उसे छुपाने लगा, फिर उसे एहसास हुआ कि वो तो फोन पर बात कर रहा है और छत पर कोई नहीं हैं तो साहिल अपने आपको संभालते हुए लड़खड़ाती आवाज में बोला:"

"ना न न नहीं नहीं भाई,
Reply
04-14-2021, 12:22 PM,
#6
RE: Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
आरव की हंसी साहिल को साफ सुनाई पड़ी और बोला:'

" चल झूठा कहीं का, दाई से पेट का हाल नहीं छुपता बे।

साहिल को खुद पर खीज महसूस हुई और बोला:" भाई वो थोड़ा थोड़ा खड़ा हुआ हैं। फिर आगे क्या हुआ तुम बताओ !!

आरव:" होना क्या था साली पक्की चालू निकली और अपना रुमाल उठाने के लिए ठीक मेरी आंखो के सामने झुकी!!

साहिल का हाथ आपके आप लोअर के अंदर घुस गया और अपने कड़क हो चुके लंड को पकड़ लिया मानो अपने बेकाबू हो चुके घोड़े को काबू करने की कोशिश कर रहा हो।

" ओह माय गॉड, फिर वो उसके कबूतर फड़फड़ा उठे होंगे!!

आरव:" भाई बस चोंच को छोड़कर बाकी सब पंख बिखर कर फड़फड़ा उठे थे ठीक वैसे ही जैसे तेरा घोड़ा हिनहिना रहा हैं।

साहिल को तभी छत पर किसी के आने की आवाज हुई और बोला:"

" आरव छत पर कोई आ रहा हैं मैं तुझे बाद में कॉल करता हूं।

साहिल का लंड पूरी तरह से तन कर खड़ा हो चुका था और तभी छत पर रूबी की एंट्री हुई तो साहिल को डर के मारे अपने माथे पर पसीना साफ महसूस हुआ है
और वो घूमकर खड़ा हो गया। मतलब अब रूबी की तरफ उसकी पीठ थी , जैसे ही साहिल ने रूबी को देखा तो रूबी ने उसे एक स्माइल दी और साहिल ने आज पहली बार अपनी मम्मी को ठीक से उपर से नीचे तक देखा और तो उसका लंड बेकाबू होने लगा।

रूबी ने एक लाल रंग की साड़ी पहनी हुई थी जिसमें वो बहुत खूबसूरत लग रही थी, उसकी साड़ी का पल्लू ठीक उसके ब्लाऊज के बीच से होता हुआ नीचे पेटीकोट में धंसा हुआ था और उसका गोरा पेट और बिल्कुल अंदर को घुसी हुई गहरी नाभि साफ नजर आ रही थी। ब्लाउज काफी टाइट लग रहा था जो इस बात को साफ दर्शा रहा था कि इसके पीछे कितनी बड़ी बड़ी ठोस चूंचियां कैद है।

रूबी:" क्या हुआ साहिल, कहां हो गया बेटे?

साहिल जैसे नींद से बाहर आया और बोला:" कहीं नहीं मम्मी, बस यहीं हूं।

रूबी:" तो फिर उधर कोने में क्यों खड़े हुए हो ?

साहिल:" वो मम्मी इधर हवा अच्छी लग रही थी आओ आप भी इधर ही आ जाओ ना,

रूबी साहिल के पास जाकर खड़ी हो गई तो साहिल की सांसे तेजी से चलने लगी। इसे समझ नहीं आ रहा था कि आज उसे अचानक से क्या हो रहा हैं,

रूबी ने साहिल के माथे पर छलक रहे पसीने को देखा और साड़ी के पल्लू से साफ करती हुई बोली:"

" क्या हुआ साहिल, इतना पसीना क्यों आ रहा है, तेरा तो माथा भी गर्म हो रहा हैं, तू ठीक तो हैं बेटा !

साहिल की आवाज जैसे गुम सी हो गईं और फिर मुश्किल से बोला:"

" कुछ नहीं, मम्मी मैं ठीक हूं,

रूबी:" आ फिर ठीक हैं तो मेरे साथ घूम चल, तेरा खाना भी हजम हो जाएगा।

साहिल को कुछ समझ नहीं आ रहा था कि क्या करे, अगर वो मम्मी के साथ घूमता हैं तो उनकी नजर लंड पर जरूर पड़ेगी इसलिए वो कोई बहाना ढूंढने लगा लेकिन उसे कुछ समझ नहीं आया तो रूबी बोली:"

" चल आजा मेरे साथ घूम अब, नहीं तो तेरे पापा की तरह तेरा भी पेट अभी से बाहर निकल जाएगा।

इतना कहकर रूबी ने उसका हाथ पकड़ कर उसे अपनी तरफ खींच लिया तो साहिल ना चाहते हुए भी रूबी की तरफ पलट गया और उसके साथ चलने लगा।
Reply
04-14-2021, 12:22 PM,
#7
RE: Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
रूबी की नजर एक पल के लिए उसके लोअर में बने हुए तम्बू पर पड़ गई लेकिन अगले ही पल उसने मारे शर्म के अपना मुंह दूसरी तरफ कर लिया और छत के चक्कर लगाने लगी।

साहिल ने अपनी दोनो जेबो में अपने हाथ डाल लिए और रूबी के साथ चक्कर लगाने लगा।

रूबी:" और बता बेटा कैसी चल रही हैं तुम्हारी तैयारी ?

साहिल :" मम्मी अपनी तरफ से पूरी कोशिश कर रहा हूं, उम्मीद हैं इस बार एग्जाम क्लियर हो जाएगा।

रूबी:" बेटा तुम क्यों जॉब के चक्कर में पड़े हुए हो ? अपना कोई बिजनेस शुरू करो, पैसे मैं तुम्हे दूंगी।

साहिल:" मम्मी आपकी बात ठीक हैं लेकिन मैं अपने पैरो पर खुद खड़े होना चाहता हूं,

रूबी:" पता हैं मुझे तुम्हारी बहुत याद आती हैं, जब तुम आते हो तो पूरा घर खुशियों से भर जाता हैं बेटा। अब मेरे साथ ही रहो।

रूबी जानती थी कि अगर साहिल घर पर रहेगा तो अनूप की उल्टी सीधी हरकते अपने आप बंद हो जाएगी और घर का माहौल पहले की तरह ठीक हो जाएगा।

साहिल:" मम्मी बस एक आखिरी कोशिश करने दो, देखना इस बार में पक्का कामयाब हो जाऊंगा।

रूबी:" बेटा मुझे तुम पर पूरा यकीन हैं, तुम आराम से एग्जाम पास कर लोगे।

साहिल:" थैंक्स मम्मी, आप बताओ आपकी योगा और फिटनेस क्लास कैसी चल रही हैं?

रूबी:" बेटा काफी कच्छी चल रही है, अब तक 2000 से ज्यादा लोग ज्वाइन कर चुके हैं।

साहिल:" मम्मी मैंने आपका एक प्रोग्राम देखा था टीवी पर, मुझे बहुत खुशी हुई थी कि मेरी मम्मी अब काफी प्रसिद्ध हो गई है।

रूबी:" बेटा लेकिन इसमें मेहनत बहुत लगती हैं, अपने आपको फिट रखना बहुत बड़ी बात हैं, और तुझे पता हैं मेरे पास अधिकतर 35 से 45 साल की औरतें आती है ताकि वो अपने आपको जवान लड़कियों की तरह फिट रख सके।

साहिल को हल्की सी हैरानी हुई और बोला;" क्या सचमुच मम्मी ?

रूबी:" हान बेटा, बोलती हैं कि हमारे मोटापे के कारण हमारे पति झगड़ा करते हैं, बेटा एक औरत ने तो मुझे 2 करोड़ का ऑफर दिया और बोली बस अपने जैसी फिटनेस बनवा दे मेरी।

साहिल एक नजर अपनी मम्मी के पूरे शरीर पर डालता हैं और सच में उसे एहसास हो गया कि उसकी मम्मी की फिटनेस हीरोइनों से भी कहीं ज्यादा अच्छी हैं, भरा हुआ जिस्म लेकिन चर्बी का कहीं नामो निशान तक नहीं, सामने की तरफ निकला हुआ सीना, पेट जैसे बिल्कुल अंदर, पतली सी कमर और पिछ्वाड़ा तो मानो किम करदाशियां को भी मात दे रहा था।

साहिल:" मम्मी सच में आपकी फिटनेस बहुत जबरदस्त हैं, आप को देखकर कोई भी औरत यहां तक की लड़कियां भी जलन महसूस कर सकती हैं।

रूबी अपनी तारीफ सुनकर खुश हो गई और स्माइल करते हुए बोली:"

" बेटा लेकिन इसमें मेहनत बहुत लगती है, वैसे बॉडी तो तुमने भी अच्छी खासी बना की हैं साहिल।

रूबी उसके जिस्म पर नजर घुमाते हुए बोलती हैं। साहिल बोला:_

" मम्मी लेकिन आपसे कम हैं, आपको पता हैं दिल्ली में लड़कियां घंटो जिम में पसीना बहाती हैं ऐसी फिगर पाने के लिए लेकिन नहीं हासिल कर पाती।

रूबी:" अच्छा तू तुम दिल्ली में लड़कियों का फिगर देखते हो !!

साहिल शर्मा गया और मुंह नीचे किए हुए बोला:"

" वो वो मम्मी जब जिम में जाता हूं तो दिख जाती हैं, ।

रूबी उसकी हालत देखकर हंस पड़ी और बोली:"

" चल कोई बात नहीं बेटा, अब लड़की सामने से निकलेगी तो नजर तो पड़ेगी ही लेकिन अपनी मर्यादा का ध्यान रखना।

साहिल अपनी मम्मी की बात सुनकर थोड़ा रिलैक्स हुआ और बोला:"

" मम्मी आप फिक्र ना करे, मैं बिल्कुल ध्यान रखूंगा। वैसे मम्मी आप अगर कभी मेरे साथ चले तो कोई भी आपको अपने प्रोडक्ट के विज्ञापन के लिए रख लेगा!!

रूबी:" कहां बेटा, मेरी किस्मत में कहां घूमना, मैं तो यहां मेरठ में ही खुश हूं।, वैसे मुझे क्यों कोई विज्ञापन के लिए रखेगा?

साहिल को समझ नहीं आ रहा था कि अपनी मम्मी को कैसे बताए कि उनका फिगर कितना जबरदस्त है, रूबी फिर से बोली:"

" अब कुछ बोलेगा भी क्या तू?

साहिल की सांसे तेज होने लगी और उसने डरते हुए कहा:"

" म म मम्मी वो आपका फि फिगर...

साहिल की जुबान बीच में ही लड़खड़ा गई और रूबी को हैरानी हुई कि उसका सुशील बेटा उसके फिगर के बारे में बोल रहा है। रूबी बोली:"

"बोल बोल ना फिगर क्या ?
Reply
04-14-2021, 12:23 PM,
#8
RE: Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
साहिल की जुबान को जैसे लकवा मार गया और बहुत कोशिश के बाद भी उसका मुंह खुला तो बोला:"

" मम्मी वो मुझे नींद आ रही है, नीचे चले!!

रूबी समझ गई कि उसका बेटा अभी बिगड़ा नहीं है इसलिए शर्मा रहा हैं और बोली:_

" चल ठीक हैं चलते है, मैं भी थक गई हूं। आज बड़ी अच्छी नींद आएगी।

साहिल नीचे आ गया और अपने कमरे में घुस गया। उसका लंड अभी तक खड़ा हुआ था जिसे उसने बड़ी मुश्किल से अपनी मा की नजरो से छुपाया था। आते ही वो बाथरूम में घुस गया और पेशाब करने लगा।

पेशाब करने के बाद उसे कुछ सुकून मिला और वो आराम से लेट गया। वो अभी तक यकीन नहीं कर पा रहा था वो अपनी मम्मी से उनका फिगर पूछ रहा था, है भगवान मैं कितना बिगड़ गया हू, उसने अपने लंड को हल्की सी चपत लगाई और बोला साले तू अपनी औकात में रहा कर, कहीं भी खड़ा हो जाता है।

वो जानता था कि उसकी मम्मी उसे गुड नाईट किस करने जरूर आएगी इसलिए उसने अपने उपर एक चादर डाल ली और लेट गया। अभी कुछ पल ही बीते थे कि रूबी अंदर दाखिल हुई।
रूबी चलते हुए उसके पास बेड पर बैठ गई और बोली:"

" नींद नहीं आ रही हैं क्या बेटा?

साहिल:" मम्मी आप तो जानती हैं कि आप मुझे सुलाने आती है उसके बाद ही मुझे नींद पड़ती है

रूबी अपना चेहरा उसके पास ले गई और उसके बाल सहलाती हुई बोली:"

"अब तुम बड़े हो गए हैं साहिल, अब किस के बिना सो जाया करो

साहिल मासूम सी सूरत बनाते हुए बोला:" कहां बड़ा हुआ हूं मम्मी अभी तो देखो कितना मासूम सा बच्चा हूं।

रूबी उसके कान पकड़कर खींचते हुए बोली:"

" ना तो अब बच्चे हो और ना ही मासूम, अपनी हरकते देखो कितनी बड़ी बड़ी करने लगे हो।

साहिल समझ गया कि उसकी मम्मी की उसके फिगर वाली बात को बहाना बना कर बोल रही हैं, इसलिए वो फिर से चुप हो गया तो रूबी बोली:"

" चल छोड़ अपना गाल इधर ला मेरे पास, तुझे किस कर देती हूं।

साहिल अपना गाल आगे कर देता हैं तो रूबी उसके गाल पर एक प्यारा सा चुम्बन कर देती है जिससे साहिल की आंखे मस्ती से बंद हो गई।

रूबी :" बस अब खुश हो, चलो अब आराम से अच्छे बच्चे की तरह सो जाओ।

साहिल हल्का सा स्माइल करते हुए हान में अपनी गर्दन हिला देता है और रूबी कमरे से बाहर जाने लगी। साहिल की नजर उसकी गांड़ पर अपने आप ही चली गई तो उसे यकीन हुआ कि उसकी मां की गांड़ सचमुच जानलेवा हैं।

रूबी दरवाजे के पास जाकर पलटी लेकिन उससे पहले ही साहिल ने अपनी नजरे घुमा ली थी तो रूबी को उसकी नज़रों का एहसास नहीं हुआ। रूबी साहिल की तरफ़ देखते हुए मुस्कुराई।

रूबी:"साहिल अपनी किस तो तूने ले ली और तुझे याद भी हैं तू कुछ भूल गया हैं आज।

साहिल सोच में पड़ गया तो रूबी अपने शब्दो में जमाने भर की मिठास घोलते हुए बोली:"

" भुल्लकड़ कहीं का, मुझे गुड नाईट किस कौन करेगा बेटा, चल जल्दी आ मेरे पास।

इतना कहकर रूबी ने एक बहुत ही प्यारी स्माइल करते हुए अपने दोनो हाथ उसकी तरफ फैला दिए ।

हाथ उपर उठाने से रूबी की चूचियां पूरी तरह से उभर आई, और पेट की नाभि भी साफ नजर आने लगी। रूबी ने इतने प्यार से आवाज लगाई कि मंत्र मुग्ध सा हुआ साहिल ये भी भूल गया कि उसका लंड पूरी तरह से खड़ा हुआ है उसे तो बस अपनी का प्यारा सा चेहरा नजर आया और वो दौड़ता हुआ उसकी बांहों में समा गया।

रूबी ने भी अपनी बांहे साहिल पर लपेट दी और भावावेश में आकर उसे जोर से कस लिया। साहिल का खड़ा हुआ लंड रूबी की टांगो के बीच घुस गया जिसका एहसास होते ही रूबी को झटका सा लगा लेकिन किसी पत्थर की मूर्ति की तरह खड़ी रही जबकि साहिल अपनी मम्मी को शाम की तरह अपनी बांहों में कसना चाह रहा था लेकिन बीच में लंड आ जाने के कारण गैप पैदा हो रहा था।
Reply
04-14-2021, 12:23 PM,
#9
RE: Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
साहिल ने अपनी मम्मी के चेहरे को अपने हाथो में थाम लिया और एक के बाद एक करके उसके दोनो गाल चूम लिए तो रूबी की आंखे एक अनोखे एहसास से बंद हो गई और उसकी जांघें अपने आप थोड़ी सी खुल गई जिससे लंड अपने आप पूरी तरह से उसकी टांगो के बीच घुस गया और उनके बीच की दूरी बिल्कुल समाप्त हो गई।

रूबी को काटो तो खून नहीं, उसकी समझ में नहीं आ रहा था कि वो क्या करे, जबकि साहिल पूरी तरह से उससे चिपका हुआ था। रूबी उसके कान में धीरे से बोली:"

" बस का बेटा, हो गया गुड नाईट किस, अब छोड़ मुझे और आराम कर।

अपनी मम्मी की बात सुनकर साहिल जैसे सपनो से जागा और अपनी मम्मी का माथा चूम लिया और बोला:"

" सचमुच आप दुनिया की सबसे प्यारी मम्मी हैं,

साहिल इतना कहकर पीछे हटा तो उसका लंड एक बार फिर से रूबी को जांघो को रगड़ता हुआ बाहर निकलने लगा तो साहिल को अपनी हालत का एहसास हुआ और उसकी गांड़ फट गई। उसने धीरे से लंड को बाहर निकाल लिया और मुंह नीचे झुकाए पलट गया और बेड की तरफ चल पड़ा।

उसे डर लग रहा था कि उसकी मम्मी उसे डांटेगी लेकिन दूसरी तरफ रूबी को तो जैसे अभी तक कुछ भी समझ नहीं आ रहा था।

आखिर कार अपने अंदर ताकत समेट कर वो बोली: गुड नाईट बेटा, कल सुबह जल्दी उठ जाना, तुझे मेरे साथ योगा और फिटनेस क्लास में चलना हैं। मुझे अब नींद आ रही है।

इतना कहकर रूबी कमरे से बाहर निकाल गई। रूबी अपने कमरे में आ गई और देखा कि अनूप रोज की तरह सो गया था। रूबी ने चैन की सांस ली और बेड पर दूसरी तरफ करवट लेकर लेट गई। उसे अपने बेटे की बाते याद आ रही थीं, आज उसे एहसास हुआ कि उसका बेटा अब जवान हो गया हैं।

धीरे धीरे रूबी की पलके भारी होने लगी और वो गहरी नींद के आगोश में चली गई जबकि साहिल की तो जैसे नींद ही उड़ चुकी थी और वो अपनी नजरो के खुद को गिरा हुआ महसूस कर रहा था।

" उफ्फ ये क्या पाप हो गया मुझसे, क्या मम्मी को मेरे लंड का एहसास हुआ होगा, पक्का नहीं हुआ होगा नहीं तो वो मुझसे जरूर डांट देती। लेकिन जिस तरह से लंड उनकी जांघो में से फस फस कर निकल रहा था तो उन्हें जरूर एहसास हुआ होगा।

अब क्या होगा, कहीं उन्होंने पापा को बोल दिया तो मेरी क्या हालत होगी, ये सब सोचते हुए साहिल का पूरा जिस्म पसीने पसीने हो उठा। उसका गला पूरी तरह से सूख चुका था और जिस्म डर के मारे कांप रहा था। साहिल के डरने की वजह से उसका लंड किसी मरे हुए सांप की तरह सिकुड़ कर छुप सा गया था।

साहिल ने सोचा कमीना ये लंड भी देखो अब कितने आराम से ठंडा पड़ गया है, बेशर्म कहीं का ।

साहिल पड़ा पड़ा बचने के उपाय सोचता रहा और आखिर में वो भी दिन भर का थका होने के कारण सो गया।

अगले दिन जैसे ही सुबह पांच बजे अलार्म बजा तो रूबी के साथ साथ अनूप की भी आंख खुल गई और वो गुस्से से झुंझलाते हुए बोला:"

" कितनी बार कहा हैं कि अलार्म मत लगाया करो, रोज मेरी नींद खराब कर देती हो तुम।

रूबी जानती थी कि ये अनूप का रोज का काम हैं इसलिए बोली:"

" देखो ना कैसे तुम्हारा शरीर फैलता जा रहा है, मैं सारी दुनिया को योग और फिटनेस मंत्र देती हूं, चलो तुम भी आज मेरे साथ दौड़ लगाओ।

अनूप का मुड पूरी तरह से उखड़ गया था इसलिए चिल्लाते हुए कहा:" जाओ तुम ही बन जाओ फिटनेस क्वीन, चैन से सोने भी नहीं देती हो।

अनूप की तेज आवाज सुनकर साहिल की नींद खुल गई और उसे हैरानी हुई कि उसका बाप फिटनेस के लिए कितनी लड़ाई कर रहा है जबकि उसकी मम्मी ने कोई गलत बात नहीं की थी।

साहिल उठ गया और बाथरूम में चला गया जबकि दूसरी तरफ रूबी घर के अंदर बने हुए पार्क में चक्कर लगाने लगी।
Reply

04-14-2021, 12:23 PM,
#10
RE: Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ
साहिल भी पार्क में आ गया और उसे रूबी हल्के अंधेरे में दौड़ती हुई नजर आईं।रूबी ने अपना ट्रैक सूट पहना हुआ था और रूबी का जिस्म पूरी तरह से पसीने से भीग चुका था और तेज दौड़ने कारण उसका दिल तेजी से धड़क रहा था जिससे उसकी चूचिया किसी टेनिस बॉल की तरह उछल रही थी। जैसे जैसे रूबी करीब आती जा रही थी उसकी चूचियों की उछाल देखकर साहिल की आंखे पूरी तरह से खुलती जा रही थी और जैसे ही रूबी पास आई तो उसने साहिल को अपने साथ दौड़ने का इशारा किया और साहिल भी उसके साथ दौड़ पड़ा लेकिन शुरू में रूबी की स्पीड को नहीं पकड़ पाया और रूबी उसके आगे दौड़ रही थी जिससे ना चाहते हुए भी साहिल की नजर रूबी की गांड़ पर चली गई और वो अपनी मम्मी की मस्त मोटी और बाहर की तरफ उभरी हुई गांड़ की थिरकन देखने लगा।

और धीरे धीरे उसके स्पीड पकड़ ली और अब दोनो मा बेटे एक साथ दौड़ रहे थे।

साहिल दौड़ते हुए बोला:" मम्मी वो पापा को क्या हो गया था सुबह सुबह उनके चिल्लाने की आवाज आ रही थी।

रूबी:" अरे बेटा मैंने उन्हें अपने साथ दौड़ने के लिए बोल दिया तो सुबह सुबह हल्ला करने लगे बस।

साहिल:" इसमें हल्ला करने वाली क्या बात हुई, उनकी फिटनेस देखो कितनी खराब हो गई है।

रूबी को अच्छा लगा कि उसका बेटा उसकी बात समझ रहा हैं तो उसे खुशी हुई और बोली:"

" छोड़ बेटा ये तो उनका रोज का काम हैं, उन्हें कोई फर्क पड़ने वाला नहीं है।

साहिल तेजी से दौड़ते हुए बोला:"

" फर्क जरूर पड़ेगा मम्मी क्योंकि आज मै उनसे इस बारे में बात करूंगा।

रूबी जानती थी कि अनूप सुधरने वाला नहीं हैं लेकिन उसने आपके बेटे को ऑल द बेस्ट का इशारा किया और फिर से तेज दौड़ लगा दी। दोनो मा बेटे पूरी तरह से पसीने में भीग चुके थे और पिछले 40 मिनट से दौड़ रहे थे।

रूबी ने साहिल को इशारा किया तो दोनो एक साथ रुक गए और घास पर लेटकर अपनी अपनी सांसे दुरुस्त करने लगे। साहिल आज सच में अपनी मम्मी के स्टेमिना का कायल हो गया।

दोनो मा बेटे दौड़ लगाने के बाद घर के अंदर घुसे तो उन्हें शांता घर में झाडू लगाती हुई नजर आईं तो रूबी ने उन्हें एक स्माइल दी और साहिल ने आगे बढ़कर शांता के पैर छु लिए।

शांता गदगद हो उठी अपने लिए रूबी का प्यार और साहिल के लिए उसके दिल में कितनी इज्जत हैं ये सोचकर। शांता उसे आशीर्वाद देते हुए बोली:"

" जीतो रहो बेटा, भगवान तुम्हे लंबी उम्र दे और तुम्हारी ज़िन्दगी खुशियों से भरी रहे।

साहिल ने उन्हें थैंक्स बोला और नहाने के लिए चला गया। दूसरी तरफ रूबी और अनूप भी नहा कर तैयार हो गए थे और रूबी इस वक़्त किचेन में नाश्ता तैयार कर चुकी थी।

तीनो बैठ कर नाश्ता कर रहे थे जबकि शांता उन्हें नाश्ता सामान ला लाकर दे रही थी। अनूप का मूड अभी तक ठीक नहीं हुआ था इसलिए अटपटे मन से नाश्ता कर रहा था।

साहिल ठीक से अपने बाप का मूड नहीं समझ पाया और बोला:'

" पापा आपको पता हैं मम्मी फिटनेस की कितनी बड़ी गुरु हैं, मेरठ तो छोड़ो दिल्ली तक इनके चर्चे हैं पापा।

अनूप ने एक बुरा सा मुंह बनाया मानो कुनेन की कड़वी गोली खा ली हो और बोला:"

" हान पता हैं मुझे, मैने भी इसका टीवी पर प्रोग्राम देखा था, लेकिन कुछ भी हो ये रामदेव से बड़ी योग गुरु नहीं हो सकती।

रूबी जानती थी कि ऐसा ही होगा लेकिन साहिल चाह रहा था कि वो बातो का सिलसिला जारी रखे ताकि उसकी मम्मी और पापा उसकी बातो में उलझे रहे और रूबी को साहिल को रात हुई बात बताने का मोका ना मिले।

साहिल पूरे आत्म विश्वास के साथ रूबी की आंखो में देखते हुए बोला:" रामदेव नहीं हैं तो क्या हुआ पापा उससे कम भी नहीं है, मैंने इतनी अच्छी दूसरी महिला योग गुरु का नाम नहीं सुना, आपने सुना हो तो बताए।

रूबी अपनी तारीफ सुनकर खुश हो गई क्योंकि औरत अक्सर तारीफ की भूखी होती है और रूबी भी इसका अपवाद नहीं थी। अनूप ने एक बार घूरकर साहिल की तरफ देखा और फिर से नाश्ता करने लगा।

साहिल ने अपनी मम्मी को अनूप से बचाकर एक स्माइल दी और बोला:"

" वैसे पापा आपको भी जिम और योग अपनाना चाहिए, देखिए ना कैसे आपका वजन बढ़ता जा रहा है अभी से।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस. sexstories 122 435,439 3 hours ago
Last Post: Burchatu
Star Incest Kahani दीदी और बीबी की टक्कर sexstories 49 576,149 Yesterday, 08:31 AM
Last Post: Burchatu
Lightbulb mastram kahani राधा का राज sexstories 34 182,227 Yesterday, 05:33 AM
Last Post: Burchatu
Lightbulb Maa ki Chudai ये कैसा संजोग माँ बेटे का sexstories 28 455,819 05-14-2021, 01:46 AM
Last Post: Prakash yadav
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 273 678,742 05-13-2021, 07:43 PM
Last Post: vishal123
Lightbulb Thriller Sex Kahani - मिस्टर चैलेंज desiaks 139 76,911 05-12-2021, 08:39 PM
Last Post: Burchatu
  पारिवारिक चुदाई की कहानी Sonaligupta678 27 814,219 05-11-2021, 09:58 PM
Last Post: PremAditya
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा desiaks 21 214,598 05-11-2021, 09:39 PM
Last Post: PremAditya
Thumbs Up bahan sex kahani ऋतू दीदी desiaks 95 89,904 05-11-2021, 09:02 PM
Last Post: PremAditya
Thumbs Up Desi Porn Kahani ज़िंदगी भी अजीब होती है sexstories 439 930,306 05-11-2021, 08:32 PM
Last Post: deeppreeti



Users browsing this thread: 11 Guest(s)