Horror Sex Kahani अगिया बेताल
10-26-2020, 12:43 PM,
#21
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
“बस साहब बहादुर पहुँचने ही वाले हैं... शमशान के पास आ गये है। नदी का शोर नहीं सुनाई देता क्या ?”

“सुनाई पड़ा था, इसलिए पूछा है। क्यों शंभू उस रात वाली बात याद है ?”

“किस रात की साहब बहादुर...?”

अरे जिस रात हम पिछली बार इस रास्ते से आये थे।”

“याद है साहब बहादुर।”

“उस रात हमने शमशान घाट पर कुछ अजीब आग देखी थी।”

“हां साहब बहादुर... अगिया बेताल।”

“क्या वह फिर कभी भी दिखाई दी ?”

“साहब बहादुर... आप तो उन बातों को मजाक समझते है न...।”

“मैं अदृश्य शक्तियों पर विश्वास नहीं करता।”

“साहब बहादुर...।” अचानक शम्भू का कम्पित स्वर सुनाई दिया और घोडा रुक गया।

“क्या बात है शम्भू – घोडा क्यों रोक दिया ?”

“वह इधर ही आ रहा है...।”

“कौन ?”

“ब... बेताल...”

“क्या बक रहा है ?”

“आज भी वैसा ही हो रहा है साहब बहादुर... हे भगवान्.... वह हवा में तैरता हमारी तरफ आ रहा है...।” शम्भू की आवाज़ घर्रा गई – “साहब बहादुर... आप जरा...।”

अचानक सूं... सां... जैसी तेज़ ध्वनि गूंजी। शम्भू ने कुछ कहा था पर उसकी आवाज़ उस ध्वनि में डूबकर रह गई और मुझे कुछ सुनाई नहीं पड़ा कि उसने क्या कहा था।

उसी क्षण घोडा हिनहिनाया और फिर भूचाल की तरह दौड़ पड़ा।

“साहब ब...ब...हा...दु..र.......।” शम्भू की चीत्कार दूर होती चली गई।

अगर मैं तुरंत संभलकर घोड़े की पीठ से चिपक न गया होता तो न जाने किस खड्डे में जा गिरता। मैंने उसकी गर्दन के बाल बड़ी मजबूती के साथ पकड़ लिए थे। वह पागलों के सामान भड़ककर भाग रहा था।

मेरे लिए यह दौड़ अंधे कुएं जैसी थी और भय मुझ पर छाया हुआ था।

अचानक वह जोर से उछला और मेरा संतुलन बिगड़ गया और फिर मैं जमीन पर लुढ़कता चला गया। शरीर के कई अंग रगड़ खाते चले गये।

आँखों में कीचड़ धंस गई और नाक मुँह का बुरा हाल था। हांथों में मिटटी आ गई, जो गीली होने के कारण दलदली मिटटी का रूप धारण कर चुकी थी।
तेज फुहार और हवा की सांय-सांय के बीच मुझे अपना दम घुटता हुआ प्रतीत हुआ। घुटने और कोहनियाँ छिल गई थी।

कुछ देर के लिए मस्तिष्क सुन्न पड़ा रहा। शरीर में चीटियां सी रेंगती प्रतीत हो रही थी। फिर कुछ मिनट तक मैं उसी स्थिति में पड़ा रहा। उसके बाद उठने का प्रयास किया।
Reply
10-26-2020, 12:43 PM,
#22
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
उठते ही जो पाँव फिसला और इस बार जो गिरा तो महसूस किया कि मैं पानी के गार में हूँ। वह काफी गहरा था, पाँव नीचे नहीं टिक रहे थे। मैं हाथ पाँव मारने लगा। किसी तरह किनारा हाथ आया, परन्तु वहां दलदल थी और मेरे पाँव उसमे धंसे जा रहे थे।

एक बार फिर मौत मेरी आँखों के सामने नाचने लगी संयोगवश मेरे हाथ में किसी वृक्ष का तना आ गया। उसे थाम कर मैंने पूरी शक्ति के साथ दलदल से बाहर निकलने का संघर्ष जारी कर दिया।

किस्मत अच्छी थी, जो अंधे के हाथ बटेर आ गई। मैं सिर्फ अपने जूते खोकर बाहर निकल आया और तूफ़ान का मुकाबला करता हाथ फैलाये पगों से जमीन टटोलने लगा।

मुझे यह नहीं मालूम था कि मैं किस दिशा में जा रहा हूँ और आगे का रास्ता मेरे लिए ठीक भी है या नहीं। मैं तो केवल ऐसा स्थान तलाश करने के लिए आगे बढ़ रहा था, जहाँ राहत की सांस ले सकूँ।

आखिर मेरे हाथ किसी कटीले तार से टकराये। मैंने उसे टटोल कर देखा –शीघ्र ही मेरी समझ में आ गया की ऐसे तार सरहद बाँधने के लिए खींचे जाते है। मैंने अपनी याददाश्त पर जोर दिया। यहाँ कौन सी ऐसी जगह है जहाँ तार खिचे होने चाहिए और घोडा मुझे कितनी दूर तक ले गया होगा।

यह बात शीघ्र मष्तिष्क में आ गई की मैं अधिक दूर नहीं जा पाया था। उसकी पीठ पर मैंने कुछ ही मिनट बिताये होंगे इसका मतलब मैं शमशान घाट के आस पास था।

और शमशान के पास तो एक ही घर है, जिसकी सरहद पर तारें खिंची है। यह तो स्वयं हमारा नया मकान होना चाहिए।

तो क्या मैं अनजाने में अपनी मंजिल तक पंहुच गया था, इसकी पुष्टि के लिए मैं तार के सहारे आगे बढ़ा। कुछ मिनट बाद ही मेरे हाथ लकड़ी के फाटक से टकराए, जो टूटा फूटा था।

अब मुझे विश्वास हो गया था कि मैं मंजिल पर पहुँच गया हूँ।

मैंने देर नहीं की और फाटक के भीतर समा गया। तूफ़ान अब भी जोरों पर था , हवा चीत्कार कर रही थी और नदी की उफनती धारा का स्वर स्पष्ट कानों में पड़ रहा था।

बुद्धि सजग थी।

दोनों हाथ फैलाए आगे बढ़ता रहा। अंत में दीवार छू गई, फिर मुख्य द्वार तक पहुँचने में अधिक देर नहीं लगी।
द्वार बंद था।

मैंने उसकी सांकल जोर-जोर से बजानी शुरू कर दी। और तब तक बजाता रहा जब तक भीतर की आवाज सुनाई नहीं पड़ी।

“कौन...कौन है ?”

आवाज मेरे कानों में धीमी पड़ी थी। मैंने महसूस किया की वह स्त्री की आवाज थी। एक बार फिर आवाज उभरी।

“मैं रोहताश...।” मैंने यथा शक्ति चीखकर कहा। मुझे डर था, कहीं हवा की सांय-सांय और वर्षा की तड़फती बूंदों में मेरी आवाज दब कर ना रह जाये।
कुछ पल बीते।

फिर दरवाजे की चरमराती ध्वनि सुनाई पड़ी। मुझे अपने चेहरे के पास ताप सा अनुभव हुआ।

“रोहताश...।” स्त्री का धीमा स्वर।

“हाँ... मैं रोहताश हूँ... यह मेरे चेहरे के सामने क्या है।”

“ओह... रोहताश... यह तुम्हारा क्या हुलिया बना है...।”

“कौन हैं आप ?”

मैंने मन की शंका मिटाने के लिए पूछा।

मैं चन्द्रावती हूँ... इस घर की अभागी औरत। अरे... आओ...आओ...भीतर आओ...क्या तुम मुझे पहचान नहीं रहे हो...।”

“मुझे सहारा चाहिये...।”

मैंने हाथ फैलाया।

एक गर्म नाजुक हाथ मेरे हाथ से टकराया और फिर मेरे पाँव बढ़ गए।

“तुम यहां बैठो... मैं दरवाज़ा बंद करके आती हूँ... अकेले ही हो न....।”

“हाँ... फिलहाल तो अकेला ही हूँ।”

वह चली गई।

मैंने इधर-उधर टटोला और एक चारपाई पर हाथ लगते ही मैं उस पर बैठ गया बाहर के तूफ़ान से राहत मिली तो मैं अपने चेहरे का कीचड़ साफ़ करने लगा।

थोड़ी देर बाद पदचाप सुनाई दी।

“यह तुम्हारी क्या हालत बन गई है ?” स्वर में कम्पन था।

मैं नहीं जानता मुझे यह दिन क्यों देखने पड़े हैं।”

“लेकिन तुम तो ऐसे लग रहे हो जैसे दलदल से लड़कर आये हो।”
Reply
10-26-2020, 12:43 PM,
#23
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
“ओह्ह – वह तो मामूली ठोकर थी... और जब कोई अंधा ठोकर खाता है तो... उसके लिए ऐसी ठोकरें और भी मामूली हो जाती है, क्योंकि उसका सारा जीवन ठोकरों में बीतता है।”

“हे भगवान्... तो यह सच है ?”

“क्या ?”

“यही कि तुम्हारी आँखें।”

“चली गई यही न...।, मैं हंस पड़ा – “लेकिन आपको इससे दुःख क्यों है ?”

“दुःख...।” एक आह सुनाई पड़ी – “खैर छोड़ो ! तुम मुझे नहीं समझ सकते। यह बताओ कि यहाँ तक अकेले कैसे पहुँच गए ?”

“न पहुँचता तो सारा जीवन पश्चाताप में बीतता। यहाँ तो मैं चंद सवालों का जवाब मांगने आया हूँ।”

“क्या वे सवाल अभी पूछोगे ?”

“जितनी जल्दी पूछ लूंगा... उतनी ही राहत महसूस होगी... बहुत बड़ा बोझ है।”

सन्नाटा।

“क्या आप मेरे सवालों का जवाब देंगी ?”

“मैं जानती हूँ तुम क्या पूछना चाहते हो... और मुझे मालूम था तुम एक दिन यहाँ अवश्य आओगे लेकिन रोहताश... यदि मेरा कहना मानो तो सवेरा होते ही वापिस लौट जाना...।”

“कहाँ ?”

““अपनी दुनिया में।”

“कौन सी दुनिया... कैसी दुनिया... अंधे की दुनिया तो सिर्फ अँधेरा होता है और यह हर पल उसके साथ रहता है।” मैं जरा जोर से बोला।

“तुम समझते क्यों नहीं... मैं नहीं चाहती की तुम इस झमेले में पड़ो।”

“यह सोचना मेरा काम है – आपकी सलाह के लिए धन्यवाद ! मैं नहीं जानता था कि आप इतनी कायर हैं। उस दिन तो आपकी बातों से कुछ और ही अंदाजा होता था, पर मैं अब समझ गया हूं वे बातें भावुकता में कही गयी थी और भावुकता में इंसान न जाने क्या-क्या कह जाता है। लेकिन हकीकत एक कड़वा घूँट है।”
“क्या मतलब है तुम्हारा ?”
“मतलब...। मैंने लम्बी सांस खींची और फिर सख्त स्वर में पूछा – “उस रात आग कैसे लगी थी ?”
“यह बात एक पुलिस इंस्पेक्टर भी पूछने आया था।”
“लेकिन वह झूठ है... और आपने वह झूठ बोलकर मेरे अरमानों का खून किया है...आपने मेरे साथ विश्वासघात किया है।”
“विश्वासघात नहीं रक्षा की है।”
कैसी रक्षा... किस बात की रक्षा ?”
“रोहताश ! जरा शांत होकर सोचो... जिसने अपनी आँखों के सामने अपने पति को मरते देखा... और जिसकी दुनिया लुट चुकी हो... जिसके पास अपना कुछ कहने को बाकी न रहा हो...वह विश्वासघाती नहीं हो सकती।”
“तो आपने इतना बड़ा झूठ क्यों बोला ?”
“क्या तुम अभी सब जानकार रहोगे...?”
“हाँ... इसी वक़्त।”
“तो सुनो सच्चाई क्या थी।” एक पल चुप रहने के बाद उसने कहा – “यह तो तुमसे छिपा न होगा कि उस रात मेरा अपहरण कर लिया गया था। तुम्हारे लिए इतना ही जानना काफी है कि उस रात जो कुछ हुआ उसके जिम्मेदार गढ़ी के लोग है। वे तुम्हें जान से ख़त्म कर देना चाहते थे और वह कुत्ता ठाकुर मेरी अस्मत लूटना चाहता था। इसलिए मेरा हरण कर लिया गया और तुम्हें ज़िंदा जलाने के लिए मकान में आग लगा दी गई। मुझ बदनसीब के साथ क्या बीती यह बताते हुए मेरा कलेजा भी काँप उठता है। मैं तो डूब मरती लेकिन मुझे ज़िंदा रहना पड़ा और उस रात जब वे तुम्हे बेहोश हालत में गढ़ी के भीतर लाये तो ठाकुर ने उस काले शैतान तांत्रिक को हुक्म दिया की जादू से तुम्हें मार दे और उसके बाद लाश जंगल में फेंक दी जाती। मैंने ठाकुर का पैर पकड़ लिया और उस जालिम से तुम्हारे प्राणों की भीख मांगी वह तुम्हें इसलिए मार देना चाहता था क्योंकि किसी ने उसे खबर दी थी कि तुमने “अगिया बेताल” सिद्ध किया हुआ है। तुम्हारे पिता भी बेताल सिद्ध करना चाहते थे ताकि तांत्रिक भैरव जो ठाकुर की मदद के लिए आया है उसका जादू काटा जा सके... और जरूरत पड़ने पर भैरव सहित ठाकुर खानदान का विनाश कर सके। तंत्र विद्या के बारे में अधिक कुछ नहीं जानती, सिर्फ विश्वास करती हूँ कि जादू सब कुछ कर सकता है।”
Reply
10-26-2020, 12:44 PM,
#24
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
भानुप्रताप को संदेह था कि कहीं तुम अपने पिता का बदला न लो और बेताल का प्रयोग उस पर न शुरू कर दो। मैंने गिड़गिड़ा कर उसे बहुतेरा समझाया कि बेताल वाली बात झूठ है। उसे थोड़ा -थोड़ा यकीन हो गया।
और पूरा विश्वास तब हुआ जब भैरव तांत्रिक ने अपने जादू का जोर तुम पर चलाया। उसका कथन था कि तुम्हारे साथ यदि बेताल होगा तो तुम जाग जाओगे अन्यथा तुम्हारी नेत्रों की रौशनी छिन जाएगी।
मैं चीख पड़ी... ऐसा जादू न चलने की विनती की पर ठाकुर ने एक ना सुनी।मैं जानती थी तुम नहीं जागोगे... और ऐसा ही हुआ।
बाद में ठाकुर ने कहा की दुश्मन को ज़िंदा रखना ठीक नहीं.... चाहे वह तांत्रिक विद्या न जानता हो, तो भी खतरनाक है...।
मैं फिर गिड़गिड़ाई। मैंने कहा एक अँधा इंसान किसी का क्या बिगाड़ सकता है। काफी कोशिश के बाद उसने एक शर्त रखी और मैंने मान ली।
उसकी शर्त के अनुसार मुझे उसकी रखैल बने रहना था, तब तक जब तक वह चाहता। जब वह चाहेगा मुझे बुला लेगा और जंगली पशु की तरह रौंदता रहेगा। तुम्हारे प्राणों के सामने यह शर्त मुझे बौनी सी लगी और मैं मान गई।
फिर उसके आदमी तुम्हें किसी जंगल में छोड़ आये। और मैं वही रही। उसने जो चाहा, मेरे साथ किया। उसके बाद एक दिन जब उसे ज्ञात हुआ कि उस काण्ड पर पुलिस उसकी जांच कर रही है। उसने मुझे धमकी दी कि यदि सच्चाई बताई तो वह तुम्हारी जान ले लेगा। मैं उसकी शक्ति देख चुकी थी। मैं जानती थी, उससे टक्कर लेना अपनी जान गवाना है। मुझे भय था कहीं वह सचमुच तुम्हें न मार दे। और इसी कारण इस नए मकान में आ कर मुझे वह झूठ बोलना पड़ा।
रोहताश ! अगर अब भी इस अबला को तुम विश्वसघातनी समझते हो तो जो सजा चाहे दे सकते हो। बस सच्चाई मैंने सामने रख दी।”
मैं बुत की तरह खामोश हो गया।
मुझे दुःख हुआ की मैंने उसके प्रति कडुवे शब्दों का प्रयोग किया था। वह तो मुझसे अधिक दुःख भोग रही थी। फिर भी बेजान हाड़ मांस के शारीर को लिए जी रही थी।
“ओह ! मुझे माफ़ कर देना।”
“मैं इस योग्य कहाँ हूँ... पर तुम्हें एक सलाह दे सकती हूँ... सवेरे वापिस लौट जाना। अगर उस जालिम को पता लग गया तो तुम अपने प्राण संकट में डाल दोगे... तुम्हे बचाने के लिए अब मेरे पास कुछ भी तो नहीं। मैं अबला स्त्री अपना आखिरी शस्त्र भी खो चुकी हूँ।”
“विश्वास रखिये... अब आपको मेरी हिफाजत की आवश्यकता नहीं पड़ेगी...। लेकिन यह भी नहीं होगा की गढ़ी वाले चैन की सांस ले लेंगे। मैं आखिरी दम तक उससे लडूंगा... और मैं जानता हूँ एक दिन उसे अपने पापों का फल अवश्य भोगना पड़ेगा।”
“क्या मतलब... क्या तुम गढ़ी वालों से बदला लोगे।”
“आपकी बात मैं मान लूंगा... यहाँ से चला जाऊँगा परन्तु आपको मेरे पिता की सौगंध यदि मुझे इस काम से रोका।”
नहीं...नहीं...।” वह रो पड़ी – “रोहताश ! मुझे ऐसी सौगन्ध मत दो... तुम अपने शब्द वापिस ले लो।”
“मैं यह फैसला कर चुका हूँ।”
“लेकिन तुम...तुम क्या कर सकोगे... कैसे करोगे ?”
“जो भी रास्ता सुझाई देगा... चाहे वह पाप का रास्ता हो।”
उसने मेरे कन्धों पर हाथ रख दिए।
“रोहताश ! क्या तुम मेरी कुर्बानी पर पानी फेर देना चाहते हो।”
“नहीं... आपकी कुर्बानी का हिसाब लेना चाहता हूँ। आप मुझे रोक नहीं सकती, हां... यदि मेरी सहायता कर सकती हैं तो बोलिए... हाँ या ना....। मैं दूसरी बात नहीं सुनना चाहता।”
ख़ामोशी छा गई।
अचानक जोरों से बादल गरजे... दरवाजे, खिडकियों के पट बज उठे।
“बोलिये मेरी सहायता करेंगी।”
वह चुप रही।
मैंने उठते हुए यही बात दोहराई।
उसके हाथों में हरकत हुई। और वह चीख पड़ी।
“हां...हां...मैं बदला लूँगी... मैं उस कुत्ते से बदला लूंगी।”
फिर उसने मुझे अपने सीने से लगा लिया।
***
Reply
10-26-2020, 12:44 PM,
#25
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
सारी रात अनेक विचारधाराओं में बीती। मैं करवटें बदल-बदल कर यही सोचता रहा कि ठाकुर से कैसे बदला लूँ। सारी घटनाएँ मेरे मष्तिष्क में चलचित्र की तरह घूमती रहीं। पर कोई निश्चय नहीं ले पा रहा था।
रह-रह कर मेरे मस्तिष्क में एक ही बात गूंजती।
आखिर “अगिया बेताल” का नाम इतनी बार क्यों सुना... आखिर उसने सिर्फ यह जानकार की मैंने बेताल सिद्ध किया है, मुझे क्यों मार देना चाहा... और फिर शम्भू का चीखना... वह विचित्र आवाज़, घोड़े का भड़कना।
क्या सचमुच बेताल है।
अगर तंत्र में शक्ति न होती तो मेरे नेत्रों की ज्योति क्यों चली जाती।
गढ़ी वालों के उपर एक तांत्रिक की छाया है... वह भी तो मेरा शत्रु है... फिर इतने खौफनाक लोगों से मैं अँधा कैसे निपट सकता हूँ।
हर बात मस्तिष्क में चक्कर काटती और एक चक्रव्यूह के सामान घूम फिर कर एक ही खाने में स्थिर हो जाती।
“अगिया बेताल ?”
आखिर अगिया बेताल क्या है ?
अगर मैं उसे सिद्ध कर लूँ तो...।
सारी रात इसी दुविधा में गुजरी सवेरे मुझे लगा जैसे मेरी सारी समस्याओं का हल “अगिया बेताल” ही है।
***
मैं अगिया बेताल सिद्ध करना चाहता हूँ।”
मेरा यह निर्णय सुन कर किसी को भी आश्चर्य हो सकता था और उसे होना भी चाहिए था, परन्तु ऐसा नहीं हुआ।
उसने शांत स्वर में कहा – “मैं जानती हूँ इसके सिवा कोई चारा भी नहीं। लेकिन मैं यह नहीं चाहती थी कि तुम इस घृणित जिंदगी के फेर में पड़ो। परन्तु तुमने जो कुछ रात तय किया उस बड़े काम को सिर्फ अगिया बेताल पूरा कर सकता है और जिस दिन उसका जादू कट गया तुम्हारी आँखों की रौशनी वापिस आ जाएगी।”
“लेकिन मैं इस विद्या के बारे में कुछ भी तो नहीं जानता।”
“शायद तुम्हारे पिता की इच्छा यही है की जो काम वह न कर सके उसे तुम पूरा कर लो... आदमी जब किसी उद्देश्य प्राप्ति की दिल से ठान लेता है तो सब कुछ कर सकता है। लेकिन रोहताश – क्या तुम अंतिम बार सोच चुके।”
“हाँ मैंने सारी रात सोचा है और इसी नतीजे पर पहुंचा हूं कि यदि अगिया बेताल में सचमुच शक्ति है तो मैं वह पहला व्यक्ति हूँगा जो उसे प्राप्त करने के लिए सब कुछ अर्पित कर दूंगा।”
“यहाँ एक बहुत पुरानी पुस्तक राखी है... वह पुस्तक तुम्हारे पिता ने मंगाई थी। उसमे अगिया बेताल सिद्ध करने का तरीका लिखा है। लेकिन मैंने जो पढ़ा, वह बड़ा भयानक है।
“कैसा भी हो... मैं हर खतरे में कुदूंगा। मुझे वह पुस्तक पढ़कर सुनाओ।”
थोड़ी देर बाद वह पुस्तक ले कर आ गई।
“मैं ले आई हूँ।”
“और मैं सुनने के लिए तैयार हूँ।”
“तो सुनो... मैं इसका पहला पेज पढ़ कर सुनाती हूं।” कुछ पल मौन रहने के बाद उसने पढना शुरू किया।
इस पुस्तक को पढने से पूर्व पाठक को यह विदित कर देना अनिवार्य है कि यह पुस्तक “अगिया बेताल” के विषय में सम्पूर्ण विवरण लिए है, एवं अलौकिक संसार के रहस्यपूर्ण तंत्र-मंत्र से ओत प्रोत है। परन्तु इसे पढ़ कर कोई भी प्रयोग करने से प्रथम यह समझ लेना चाहिए की यह क्रियाएं अत्यंत घृणित है। इंसान इस दुराग्रह में फंसने के पश्चात कभी मुक्त नहीं हो पाता। उसके लिए सभी सांसारिक सुख समाप्त हो जाते है और वह एक गंदा जीवन जीता रहता है। कोई भी तांत्रिक इस संसार का सबसे घृणित निम्न स्तर का मानव समझा जाता है, जिसके लिए स्वर्गलोक के द्वार हमेशा के लिए बंद हो जाते है। अतः मेरा नम्र निवेदन है की कोई भी इस गंदे जीवन में पदार्पण न करें। यह पुस्तक मात्र मनोरंजन के उद्देश्य से रची गई है, और सत्यता पर आधारित है।
इतना पढ़कर वह खामोश हो गई।
“मैं सुन चुका – आगे पढ़िए।” मैंने कहा।
और वह पढने लगी।
***
Reply
10-26-2020, 12:44 PM,
#26
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
उस सारी पुस्तक को सुनने के बाद मेरे मस्तिष्क में विशेष परिवर्तन आता गया। मैं अपने निश्चय से पीछे नहीं हटना चाहता था। मुझे आभास हुआ जैसे मैं संसार के सुखों से दूर होता जा रहा हूँ और एक गंदा आदमी बन गया हूं।
बेताल की साधना कितनी घृणात्मक थी, इंसान काँप उठे और ऐसा करने के लिए कोई बिरला ही तैयार हो।
जो कुछ उसमे मौजूद था वह सचमुच भयानक था।
बेताल की साधना का प्रथम चरण प्रारंभ होते ही नहाना और वस्त्र बदलना वर्जित था। इस चरण में रह कर कम से कम तेईस दिन बिताने थे और इस बीच भोजन भी आम इंसानों से भिन्न था।
भोजन के लिए कुछ शर्तें थी... मुर्दे की खोपड़ी में आग जलाकर उबला हुआ मुर्दा मांस जिसका मांस खाना हो उसे मरे हुए चौबीस घंटे का समय बीत जाना चाहिए। इस मांस को या तो कच्चा या मुर्दे की खोपड़ी पर उबाल कर खा सकते थे। इसके अलावा मैला (मॉल-मूत्र) का सेवन किया जा सकता था। अन्य कोई सेवन नहीं की जा सकती थी।
सोते समय मुर्दे की खोपड़ी सिरहाने के पास होनी चाहिए।
इस प्रकार कम से कम तेईस दिन... अधिक चाहे जितने हो जाए, गुजारने थे। जितना समय अधिक होगा साधना उतनी ही पुष्ट होगी। यह था प्रथम चरण।
प्रारंम्भ करते ही समस्त अच्छे विचारों का त्याग।
हर किसी के प्रति घृणित विचार।
हर स्त्री के प्रति अशुद्ध भावना, चाहे यह कोई भी हो।
हिंसक जाग्रति... किसी पर दया न करना... कपट की हर कला सोचना और सिर्फ विनाश की भावना जगाना। किसी को जीवन देने की कल्पना ना करें सिर्फ पैसे से प्यार करें, किसी जीवित प्राणी से नहीं।
जब तक बेताल सिद्ध नहीं हो जाता अपना ठिकाना ना छोड़ें और ना किसी पर यह बात प्रकट करें। एक सहायक रखने की छूट परन्तु साधना के वक़्त वह पास भी ना फटके।
निवास – शमशान के निकट।
निवास में कोई भी पवित्र वास्तु न रहे और न इस बीच उसकी सफाई की जाये। रहने के कमरे में कोई धुला वस्त्र ना रहे...बिछौना भी एक ही रहे।
अब बेताल का दूसरा चरण प्रारंभ होता है, रोजमर्रा की बातें वही रहेंगी अर्थात खाना और रहन-सहन में कोई परिवर्तन नहीं होगा।
दूसरे चरण में चाँद की उपासना थी। वह इस प्रकार थी –
चन्द्रमा की आठवीं तारीख से यह साधना प्रारंभ होती है। चाँद उदय होते ही शमशान घाट पर नग्न खड़ा होना। मुँह चन्द्रमा की तरफ रहे और उसे निहारता रहे। इसी स्तिथि में तब तक खड़े रहना है जब तक चाँद सर से ऊपर से गुजरकर पीठ पीछे न चला जाए। जब उसकी रौशनी पीठ की तरफ चली जाए तो साधना पूर्ण हो जाती है।
उक्त क्रिया लगातार तेईस रातों तक होनी चाहिए। बीच में नागा होने पर दूसरे चरण की साधना शुरू से दुबारा करनी पड़ती है। इस बीच किसी प्रकार की आवाज या खौफनाक नजारा देखने में आ सकता है। डरने से न सिर्फ साधना असफल हो जाती है वरन हानिकारक भी हो सकती है।
अगिया बेताल निर्बल और डरपोक के पास आना भी पसंद नहीं करता - उसकी परीक्षा लेता रहता है।
इस साधना के दौरान व्रत अनिवार्य है और चाँद की उपासना के बाद रोज उसी प्रकार का खाना खाना चाहिए। इस बीच कोई विघ्न ना डाले... खाना स्वंय बनाना होगा... मॉस भी स्वंय लाना होगा।
जब यह क्रिया तेईस रोज तक संपन्न हो जायेगी तो “अगिया बेताल” सामने हाजिर हो जाएगा और अपनी शर्त रख देगा। ध्यान रहे उसकी शर्तों का पूर्णतया पालन हो तभी बेताल कब्जे में रहेगा।
चन्द्रमा साधना के दौरान इस मंत्र का तेईस बार जाप करें। अलग-अलग धर्मो के लिए अलग-अलग मंत्र है।
(नोट – मंत्र नहीं दिया जा रहा है, ताकि कोई इस क्रिया को न करे –पुस्तक का उद्देश्य मात्र मनोरंजन है।)
उन् बातों को सोचते-सोचते मस्तिष्क में भारीपन आता जा रहा था और मैंने महसूस किया की मेरे विचार उसी अनुरूप बदलने लगे हैं।
पुस्तक में अगिया बेताल के कारनामों का जिक्र एवं विभिन्न प्रकार के कार्यों को पूर्ण करने के लिए तंत्र विद्याएँ लिखी थी। पर मैं उस वक़्त सिर्फ बेताल को सिद्ध करने की सोच रहा था।
कैसा होगा बेताल !
क्या पहाड़ जैसा ऊंचा...।
या तिनके जैसा।
उसका रूप कैसा होगा ? मैं इसी बारे में कल्पना करता रहा।
***
Reply
10-26-2020, 12:44 PM,
#27
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
आखिर यह दिन भी आ गया जब बैतालिक साधना का प्रथम चरण शुरू हो गया। मैंने सवेरे-सवेरे शमशान के तट पर स्नान किया और साधना के वस्त्र पहन लिए। उस वस्त्र को धारण करते ही मैंने संसार के सुखों का त्याग कर दिया था और अपने आपको एक गन्दी जिंदगी में धकेल दिया था।
गढ़ी वालों से यह गतिविधि छिपी रहे, इसलिए तय हुआ था कि मैं दिन भर जंगल में रहूँ और रात होते ही लौट आऊं। इस बीच शम्भू भूला भटका आया था। चन्द्रवती ने उसे यह कह कर लौटा दिया कि मैं वहां नहीं पहुंचा।
आवश्यक था कि मैं लोगों से कम ही संपर्क रखूं। चन्द्रावती दो तीन बकरे खरीदकर ले आई थी और मैंने एक को अपने हाथों से मार डाला था। मेरे हाथ उस वक़्त काँप रहे थे परन्तु थोड़ी देर बाद बकरे का खून देखकर कंपकंपी समाप्त हो गई।
मेरा मन अब डिगने वाला नहीं था। बकरे का मृत शारीर मकान के एक भाग में डाल दिया गया था, जिसका मांस मुझे खाना था।
इसी प्रकार मुर्दे की खोपड़ी भी प्राप्त कर ली गई थी। अब साधना बाकायदा शुरू हो गई थी।
मेरे रास्ते में सिर्फ मेरी आंखें रुकावट थी, पर अब काम इस प्रकार हो रहा था कि आँखें चन्द्रावती की थी और जिस्म मेरा।
मैं अपने मन में हर गन्दी भावना का समावेश कर लेना चाहता था, अपने आप को क्रूर बनाने लगा।
चेहरे पर भयंकरता लाने की कोशिश जारी हो गई।
पहली रात जब खोपड़ी पर आग जलाई तो दिल धड़कता रहा, तबियत घबराने लगी पर इसी घबराहट पर मैंने जल्दी काबू पा लिया।
मैं मांस उबालने लगा।
कुछ देर बाद जब मांस उबल गया तो उसे चखते ही भूख गायब हो गई, दिल डूबने लगा। एक तो मैं मांसाहारी था ही नहीं, ऊपर से ऐसा मांस जिसमे सडान्ध सी आ रही हो। फिर मैंने अपने को संतुलित किया और दिल कड़ा करके खाने लगा।
थोड़ा सा मांस खाकर शेष फेंक दिया। उसके बाद खोपड़ी उठाकर घूरने लगा, हलांकि मुझे कुछ दिखाई नहीं दे रहा था, पर मैं उसकी कल्पना करने लगा।
उसके बाद मैं सोने के लिए अपने कमरे में पहुंचा। अब मैं भी इस मकान के हर भाग में पहुँच जाता था और अपने मतलब की वस्तु ख़ोज लेता था।
थोड़ी देर बाद आहट हुई।
क़दमों की चाप से ही अनुमान लगा लिया कि मेरी सौतेली मां है। इस घर में हम दो ही तो प्राणी थे।
“कैसा रहा आज का दिन ?” उसने पूछा।
“बड़ा मुश्किल।”
“धीरे-धीरे हर मुश्किल आसान हो जायेगी।”
“हाँ सोचता तो हूँ”
“तुम मुझे देख तो नहीं सकते, पर महसूस तो करते हो।”
“हाँ...।”
“क्या महसूस करते हो ?”
“एक देवी औरत... जो मेरी शक्ति की प्रेरणा है।”
वह मौन हो गई।
“चली गई क्या ?”
“नहीं यहीं पर हूँ।”
“तो कुछ बोलिए... आज सुबह से गूंगा बन कर बैठा रहा।”
“तुम कड़ी परीक्षा से गुजर रहे हो और मैं यह नहीं चाहती कि तुम्हें कहीं भी असफलता मिले। परन्तु महसूस कर रहीं हूं की तुम आसानी से अपने चाल-चलन को नहीं बदल पाओगे।”
“क्यों... कैसे जाना। अभी तो पहला रोज है।”
“कितने खेद की बात है कि मैं तुम्हें कुकर्मी बनने की सलाह दे रही हूँ।”
“आप क्यों... मैं खुद बन रहा हूँ।”
“लेकिन तुम्हें बनाने में मुझे सहयोग देना पड़ेगा। अभी-अभी तुमने कहा था कि तुम मुझे देवी की तरह महसूस करते हो...और शक्ति की प्रेरणा महसूस करते हो, जबकि तांत्रिक किसी जीते-जागते को ऐसा नहीं समझता। वह अपने को सर्वोपरी समझता है और शेष को कीड़े मकोड़े।”
“ओह... मैं तो भूल ही गया था... तो मुझे आपको भी उस नजर से देखना होगा।”
“मैं यही कहने आई हूँ। मैं देखना चाहती थी कि तुम कितना बदले हो। तुम्हें तुरंत बदलना है – और मुझे भी उसी नजर से देखना है, जैसे अन्य औरतों को...। कल से ध्यान रहे – शुभ रात्रि।”
वह चली गई।
Reply
10-26-2020, 12:44 PM,
#28
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
और मेरे लिए यह रात और भी कठिन थी। मैं उसे गन्दी भावना से कैसे देख सकता था। उसके प्रति तो मेरे मन में आदर था। यह मुझसे कैसे हो सकेगा ?
नहीं – मैं उसके सामने ही नहीं पडूंगा... पर ऐसा कब तक होगा... उसके बिना मैं कर भी क्या सकता हूँ।
और वह अपने दिल में क्या सोच रही होगी। क्या वह चाहती है की मैं गन्दी हरकतें शुरू कर दूँ।
सचमुच कितनी भारी परीक्षा थी। मैं इस परीक्षा में स्वयं को असफल महसूस कर रहा था।
मैं ऐसा नहीं सोच सकता।
दूसरा दिन सोचों में गुजरा : जंगल में बैठा रहा। रात होते ही वह मुझे लेने आ गई। रात भी पिछले दिन की तरह गोश्त खाया। आज इतनी झिझक नहीं हुई।
जब मैं अपने कमरे में पहुंचा और बिस्तरा टटोलने लगा तो मेरा हाथ किसी गर्म वस्तु से टकराया। मैंने एकदम हाथ हटा लिया।
“कौन ?” मैंने पूछा।
“मेरे अलावा और कौन हो सकता है?”
“आप यहाँ – मेरे बिस्तर पर।”
“हाँ तांत्रिक ! क्या मेरा यहाँ लेटना बुरा लगा ?”
“नहीं... तो क्या मुझे दूसरे कमरे में सोना पड़ेगा ?”
वह तड़प कर बोली – “तुम महापुरुष नहीं, बल्कि तांत्रिक बन रहे हो। तुम्हे इसी बिस्तरे पर सोना होगा।”
“तो आप उठिये।”
“रोहताश ! तुम्हारे विचार आज भी वैसे हैं। तुम क्या बुरे आदमी बनोगे। तुम पहली ही परीक्षा में असफल रहे हो, तुम्हारी यह साधना बेकार रहेगी। अब भी कुछ नहीं बिगड़ा, मेरा कहना मानो तो यह हठ छोड़ दो।
“नहीं, यह कभी नहीं हो सकता।”
“तो आगे बढ़ो और बुराई की आग में कूद पड़ो। तुम्हारे उद्देश्य के लिए मैं बलि का बकरा हूँ। मैं तुम्हें हर बुराई की ओर ले चलूंगी... आओ देर न करो... मैं तुम्हारी झिझक मिटा देना चाहती हूँ। मैं तुम्हारी सहायक हूँ न...।”
“लेकिन आपका और मेरा रिश्ता...।”
“बकवास है सब – तांत्रिक का किसी से कोई रिश्ता नहीं होता।”
उसने मेरे हाथ थाम लिये।
“मैं तुम्हारी सहायता कर रही हूँ। तुम सबसे बड़ी बुराई के पथ पर बढ़ोगे... लो मुझे छूकर देखो... आग अपने आप लग जायेगी।”
मेरे माथे पर पसीना तैर रहा था।
मैंने अपना काँपता हाथ आगे बढाया ... तो बुरी तरह चौंक पड़ा। मैंने महसूस किया वह वस्त्र उतारे हुए है।
“डरो नहीं।”
और वह मुझसे लिपट गई।
तांत्रिक... बेताल... घृणित कार्य... मेरे मस्तिष्क में बिजलियाँ कौंधने लगी। धीरे-धीरे बुराई का चेहरा उभरने लगा। मेरी शराफत बेनकाब हो गई, चेहरा कठोर हो गया और मैं धीरे-धीरे उसे धकियाता हुआ बिस्तरे की तरफ ले गया।
मैं उसके चेहरे के भावों को नहीं पढ़ सकता था।
शायद वह यह तय कर चुकी थी कि उसका कोई अस्तित्व नहीं है।
उस रात मैंने सबसे पहला बुरा काम किया। और मेरे दिमाग में ठहरी एक दीवार ढह गई। मुझे लगा अब दुनियां में कोई स्त्री ऐसी नहीं जिसके प्रति मैं शराफत दिखाऊँ। सबसे बड़ा गुनाह तो कर चुका था।
वह सच कहती थी – इस बुराई के बाद मेरी हर झिझक दूर हो जायेगी। सचमुच मेरी भावना काफी बदल चुकी थी। अब मुझे उससे कोई भी सहानुभूति नहीं हो रही थी।
क्योंकि अब हमारे बीच औरत मर्द का रिश्ता था।
उस घटना के बाद धीरे-धीरे मेरी हिंसक प्रवृति भी जागती रही। मेरे भीतर अनोखा परिवर्तन हो रहा था। अब तो मैं कभी-कभी कच्छा मांस भी खाने लगा था।
बकरे की गर्दन पर छुरी चलाते हुए मुझे जरा भी हिचक नहीं होती। मौत की आवाजें मुझे मधुर लगने लगी और भुजाओं में बल आने लगा। इस प्रकार दिन बीत रहे थे।
इस बीच दो बार ठाकुर का आदमी वहाँ आया था और चन्द्रावती को दो रातें ठाकुर की गढ़ी में बितानी पड़ी थी। चन्द्रावती अब धीरे-धीरे गढ़ी के बारे में पूरी जासूसी कर रही थी।
वह मुझे उस बारे में बताया करती थी।
ठाकुर को मेरे बारे में कोई खबर नहीं। वह हर समय अय्याशी में डूबा रहता था। भैरव प्रसाद काले पहाड़ पर जा चुका था।
Reply
10-26-2020, 12:44 PM,
#29
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
गढ़ी में कुल मिला कर चालीस इंसान रहते थे। आठ घोड़े और बंदूकों से लैस पहरेदार भी वहीं रहते थे।
मैं चन्द्रावती द्वारा लाई गई जानकारी को मस्तिष्क में सुरक्षित रखता था।
इसी प्रकार तेईस दिन बीत गए। मेरा प्रथम चरण पूरा हो चुका था। अपने भीतर से उठने वाली दुर्गंध मुझे प्रिय लगती थी। अब मुझे उस दिन तक अपनी साधना का यह चरण जारी रखना था, जब तक चाँद की आंठ्वीं तारीख न आती। मैंने यह ड्यूटी चन्द्रावती पर छोड़ रखी थी कि वह मुझे बताये आठवीं तारीख कब आ रही है।
अगर आकाश पर बादल छा जाते है तो मेरी यह साधना भंग हो जायेगी... यह बड़ी कठिन थी... ना जाने कब पूरी होती है।
उसने मुझे बताया कि बारह रोज बाद चाँद की आठवीं तारीख आएगी। इस प्रकार मैंने प्रथम चरण में बारह दिन और बिताये।
सबसे बड़ी बात यह थी की अब मैं आदी हो गया था। मुझे इस दिनचर्या में अब कोई कठिनाई नहीं महसूस होती थी। अब तो मैं इसी स्थिति में रह कर सालों गुजार सकता था।
मैं जंगली पशु जैसा बन गया था।
मेरी दाढ़ी और बाल काफी बढ़ चुके थे, जो आपस में चिपककर रह गये थे। उनमें जुएँ भर गये। वस्त्रों पर चिल्लारों ने अड्डे बना लिए थे, पर मुझे इसकी जरा भी तकलीफ नहीं होती थी।
नाखून काफी नोकीले हो चुके थे।
चन्द्रावती कहती थी कि अब मैं काफी भयानक नजर आने लगा हूँ। कोई आसानी से पहचान भी नहीं सकता। यह सुनकर मुझे ख़ुशी होती।
आखिर बारहवां दिन भी आ गया।
वह यह देखती रही थी की चाँद किस दिशा से उदय होता है। उसके उदय होने से पहले ही वह मुझे उस दिशा में मुख करके छोड़ आई। मैंने वस्त्र उतारे हुए थे।
शमशान में भयानक सन्नाटा छाया हुआ था। वह काफी हिम्मत वाली स्त्री थी, जो मुझे उस वक़्त वहां छोड़ आई। उसके जाने के बाद मैं अकेला रह गया। यह अनुमान लागना उसका काम था कि चाँद किस वक़्त मेरे सर से गुजर कर पीठ की तरफ चला जाएगा। परीक्षा की विकट घड़ी मेरे सामने थी।
यह कल्पना कितनी भयानक थी की मैं शमशान पर रात के बियाबान अन्धकार में नग्न खड़ा था। लेकिन अब मैं इतना निर्भीक हो गया था कि शमशान मेरे लिए कोई महत्वा नहीं रखता था। हाँ सारी रात खड़े रहना अवश्य तकलीफदेह था।
Reply
10-26-2020, 12:44 PM,
#30
RE: Horror Sex Kahani अगिया बेताल
वह मुझसे काफी दूर थी पर चाँद उदय होने पर उसने सीटी बजाकर मुझे सचेत करना था। लगभग आधा घंटे बाद सीटी की धीमी आवाज मेरे कानों में पड़ी और चेहरा सीधा किया – पलके उठाई और मन्त्रों का उच्चारण शुरू कर दिया।
इसी स्थिति में मुझे चार घंटे बिताने पड़े। दूसरी सीटी बजने पर मैंने साधना ख़त्म की। इस बीच सन्नाटे का दम तोडती नदी की धरा कल...कल... करती रही।
कभी-कभी ठंढी हवा मेरे बदन को सिहरन भेज देती।
वापिस लौटते समय मेरा सर भारी हो रहा था। मैंने व्रत तोड़ा और सो गया। सोते- सोते सुबह हो गई अतः मैं दिन चढ़े तक सोता ही रहा।
इस प्रकार दूसरा चरण प्रारंभ हो गया...छः रातें बीतने के बाद मैंने कुछ विचित्रता महसूस की। छठी रात मैंने नगाड़ो का भयानक शोर सुना फिर कोई जोर-जोर से हुंकार भरता रहा... उसके बाद ऐसा लगा जैसे साँपों ने घेर लिया हो... यह सब मुझे छठी रात महसूस हुआ – लेकिन मैं जरा भी भयभीत नहीं हुआ।
सातवीं रात किसी ने मुझे धक्का देना चाहा – पर मैं अडिग रहा फिर मेरे गाल पर जोरदार तमाचा पड़ा। मैं हटने वाला नहीं था, चाहे मेरी मौत वहीं हो जाती।
गनीमत थी मुझे कुछ दिखाई नहीं देता था पर वह सब कुछ मुझे महसूस होता था। सातवीं रात के अंतिम पहर मैंने एक सिर कटे खौफनाक भैंसे को अपनी तरफ खून का फौव्वारा फेंकते अनुभव किया फिर वह मुझे रौंदने के लिए दौड़ पड़ा।
अब मुझे विश्वास हो चला था कि बैतालिक और तंत्र-मंत्र ढोंग या झूठ नहीं। इस दुनिया में हमारी दुनिया के अलावा और भी अदृश्य संसार है। अब मेरा उत्साह काफी बढ़ चुका था।
परन्तु आठवीं रात दुर्भाग्यपूर्ण थी। आसमान पर बादल छा गए और चाँद उसमें छिप गया। इस प्रकार आठवीं रात ही दूसरे चरण की साधना भंग हो गई। मुझे बहुत कोफ्त महसूस हुई। अब मुझे प्रारंभ से यह साधना अगले पक्ष में करनी थी।
लेकिन मैंने धैर्य नहीं छोड़ा।
अगले पक्ष का इंतज़ार करने लगा।
अब मैं यह साधना किसी सूरत में आधी नहीं छोड़ सकता था।
अगला पक्ष प्रारंभ होते ही मैं पुनः तैयार हो गया। उस वक़्त तक मेरे शारीर पर आधा-आधा इंच मैल जम चुका था और बालों ने जटाओं का रूप धारण करना शुरू कर दिया था।
आठवीं तारीख आते ही साधना फिर से शुरू हो गई। इस बार मैं हल्कापन महसूस कर रहा था। छठे दिन वैसी ही क्रियाएं जारी हो गई। विभिन्न प्रकार से मुझे भयभीत किया जाता रहा। सातवीं रात इसने उग्र रूप धारण कर लिया।
आठवीं रात ऐसा लगा जैसे मेरे सर पर आग का गोला झन्नाटे की आवाज पैदा करता चक्कर काट रहा... फिर...
फिर तीसरे तीसरे घंटे एक चमत्कार हुआ।
मैं चौंक पड़ा जब मैंने आग का अलाव अपने सामने नाचते देखा। मुझे विश्वास नहीं हुआ की मैं देख सकता हूँ। मेरा ह्रदय गदगद हो उठा। मैं शमशान का दृश्य स्पष्ट देख रहा था।
पर यह ख़ुशी सिर्फ शमशान के उस दृश्य तक ही सीमित रही। वापसी पर मैं पुनः अंधा था। मैंने इस घटना का कोई जिक्र चन्दा से नहीं किया। यूँ भी मैं वहां घटने वाली किसी घटना का जिक्र नहीं करता था।
पर मुझे विश्वास हो गया था कि जल्दी मेरे नेत्रों की ज्योत वापिस लौट आएगी।
नौवीं रात मुझे एक नहीं कई खौफनाक दृश्य दिखाई पड़े। भयानक चेहरे व बड़े-बड़े दांत... वे सब मुझे नोच रहे थे... तरह-तरह की आवाजें पैदा करते थे। कभी-कभी चारो तरफ आग लग जाती और मुझे ऐसा लगता जैसे कुछ देर और रहा तो जलकर राख हो जाऊंगा।
लेकिन अब मैं पीछे हटने वाला नहीं था।
Reply


Possibly Related Threads…
Thread Author Replies Views Last Post
  Adultery PYAAR KI BHOOKH ( COMPLETE) sexstories 485 14,817 07-17-2024, 01:32 PM
Last Post: sexstories
  Adultery Laa-Waaris .... Adult + Action +Thrill (Completed) sexstories 101 13,340 07-12-2024, 01:47 PM
Last Post: sexstories
  Indian Sex Kahani Kuch Rang Zindagi Ke Aise Bhi sexstories 66 15,102 07-10-2024, 02:25 PM
Last Post: sexstories
  Incest Sex Kahani Haseen pal sexstories 130 40,909 07-10-2024, 01:40 PM
Last Post: sexstories
  Incest Apne he Bete se pyar ho gya (Completed) sexstories 27 40,184 07-06-2024, 11:34 AM
Last Post: sexstories
  Dark Seduction (Indian Male Dominant BDSM Thriller) sexstories 21 9,216 07-06-2024, 11:23 AM
Last Post: sexstories
  Incest Harami beta Shareef maa (Completed) sexstories 19 31,832 07-05-2024, 01:32 PM
Last Post: sexstories
  Incest Kahani - Bhaiya ka Khayal mein rakhoon gi sexstories 145 24,036 07-05-2024, 12:53 PM
Last Post: sexstories
  Hindi Porn Stories बदनसीब फुलवा; एक बेकसूर रण्डी sexstories 73 41,916 07-05-2024, 12:36 PM
Last Post: sexstories
  Thriller Safar ek rahsya (secret of journey)~ Completed sexstories 58 10,028 07-04-2024, 02:18 PM
Last Post: sexstories



Users browsing this thread: 2 Guest(s)