Incest Porn Kahani एक फॅमिली की
06-19-2020, 01:27 PM,
#21
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की


UPDATE 18

Ravi ko ek baar to laga ki wo khushi ko bhi jaga de taki wo mohini ka khyal rakh sake .... Par agle hi pal usne ye vichar tyaga kyunki khushi abhi sayad gehri neend mein ho .... Ab ravi ne sab kuch khud hi karne ka faisla kiya ....

Ravi ne mohini ko sahara dekar bithaya aur fir wapas sahara dekar apni maa ke hi room mein sula diya .... Ravi ab apne room jane ke liye uth khada hota hai aur kitchen mein pani pine ke baad apne room chala jata hai .... Rajni ka room bahar se hi lock tha wo aj ghar nahi lauti thi .....

AB AAGE

Subeh ko ravi ki neend 4 baje hi khul jati hai .... Tabhi usko khyal aata hai ki na jane uski maa kaisi hogi isiliye wo uth kar ground floor jata hai aur maa ke room ki taraf apne kadam badhata hai .... Aj sunday tha isliye khushi abhi nahi jaagi thi ....

Room ka gate sirf sataya hua tha lock nahi tha .... Ravi room mein enter karta hai fir usne bed ki taraf najar ghumayi to uski maa waha nahi thi aur washroom se pani girne ki awaz aa rahi thi to zahir tha ki ravi ki maa mohini abhi washroom mein thi ....

Ravi gate ko wapas sata deta hai aur chup - chap aakar bed par baith jata hai .....

Mohini abhi hi kuch der pahle uthi thi .... Raat mein jab wo ghar aayi thi to fully drunk condition mein thi aur abhi bhi uska sir thoda thoda chakra raha tha to usne socha kyu na shower le liya jaye jisse uska hangover utar jaye .... Isiliye wo jaldi se bina room ke gate ko lock kiye hi washroom chali gayi aur sath mein koi kapda tak nahi le gayi .... Ravi jab room mein aaya uss wakt wo shower ke neeche khadi thi jisse gate khulne ya kisi ke room ke andar aane ki aahat pani ke awaz mein ghul mil gayi thi ....

Shower lene ke baad usko khyal aaya ki usne to change karne ke liye kuch laya hi nahi aur uske pahle wale kapde to usne khud shower mein geele kar diye the .... Tab usko washroom ke hi hangar mein tanga huwa towel dikhayi deta hai .... Wo towel lekar jaldi jaldi apne jism se sare wet kapde utar kar farsh par fenk deti hai ....

Aur mohini towel ko apne jism par lapetate huye washroom ke gate ka lock kholne lagti hai .... Towel to normal size ka hi tha par mohini ke jism ke mukable chhota hi tha .... Mohini ne towel ko apne papite ke saman chuchiyo ke upar hi bandha tha ..... Towel mohini ke kele ke saman jangho tak hi aata tha ....

Mohini washroom ka gate khol room mein enter karti hai aur fir ravi ki najar bhi washroom ke gate ki taraf jati hai to ravi apni maa ko sirf ek towel mein dekh shocked ho jata hai tabhi achanak se mohini ki najar bed par baithe huye uske bete ravi par padti hai jisse wo ghabra jati hai .... Aur ghabrahat ka parinam ye hota hai ki uske jism par maujud ek matra kapda yani ki towel bhi uska sath chhod kar jameen par ja girta hai ....

Ab ek maa apne bete ke samne fully nude khadi thi .... Kuch lamho tak to dono maa - bete ko kuch samajh hi nahi aaya ki kya kiya jaye .... Jin mammo se ravi ne bachpan mein doodh piya tha wo abhi fir se nangi thi .... Uski janmsthali jis se wo iss duniya mein aaya tha wo bikul uske hi samne kisi khuli kitaab ke saman khuli huyi thi ..... ye baat alag hai ki uske charo taraf ghana jungle ugaa hua tha jisse wo jagah clear nahi dikh raha tha ..... Ravi ne aj tak kisi ladki/lady ke nange chuchiyo tak ko na dekha par aj to uske samne pura pitara hi khula hua tha wo bhi uski apni maa ka ....

Chand second ke baad hi mohini ko apni halat ka andaza hua to wo peeche mud kar washroom mein bhagne lagi aur fir ravi ki aankho ke samne uska wo hissa aa jata hai jo ravi ko behad pasand thi ..... ek mast si bharawdar gaand ... Halaki ek do second ke liye hi ye najara ravi ki aankho ke samne aaya tha par wo hi kisi murde tak mein bhi jaan dalne ke liye kafi tha ....

Mohini nangi hi washroom mein khadi thi aur uska dil jor - jor se dhadak raha tha aur wo sharm se pani - pani huyi ja rahi thi .... Ravi ka chhota ustad to iss behad kamniye najare se khada hokar trouser ke andar uske underwear ke kaid mein hi salami par salami diye ja raha tha .... Kuch palo mein hi ravi ko ye khyal aata hai ki wo abhi kuch der pahle jise nange haal mein dekh raha tha wo uski sagi maa thi to uska man glani se bhar jata hai aur wo bed se uth khada hota hai aur seedhe room se bahar aa jata hai aur jate - jate wo jor se gate ko lock kar deta hai taki uski maa ko pata chal jaye ki wo uske room se chala gaya hai ....

Mohini janti thi ki jo bhi kuch thode der pahle hua usme na to uske bete ki galti thi na hi uski khud ki .... Kuch der baad jab mohini ko tasalli ho jati hai ki ravi room se chala gaya hai to wo room mein aa jati hai aur apne kapde pahan leti hai .....

Idhar ravi bhi apne room mein wapas aa chuka tha usko abhi bahut bura lag raha tha ki na jane uski maa uske bare mein kya soch rahi hogi aur wo kaise ab apni maa ka samna karega .... Aj to waise bhi sunday tha yani ki pura din wo ghar mein hi maujud hoga ....

Sochte - sochte hi ravi ki aankh kab lagi usko pata na laga ...

Ravi ki khushi ke jagane se khuli .... Jab ravi ki aankh khuli to uske samne khushi usko jhuk kar uthane ki koshish kar rahi thi jhuke hone ke wajah se uski suit se bra mein kaid jhankti huyi uski medium size ki chuchiya behad kamuk najara pesh kar rahi thi .... Khushi abhi bada gala wala suit pahni huyi thi aur bina chunari ke hi thi ....

Uthte ke sath hi aisa najara dekh uska chhota ustad neend se jaag kar jamhayi lene ...

Khushi - bhai aj tum morning walk par bhi nahi gaye kya baat hai ....

Ravi jaldi se uth kar baith jata hai aur badi chaturayi se apne pant mein bane tent ko khushi se chhupa leta hai jispar kabhi bhi khushi ki najar pad sakti thi .....

Ravi - kuch nahi didi wo raat mein party se jara sa late se aaya tha to morning mein neend na khuli ..... maa kha hai

Khushi - wo kitchen mein breakfast bna rhi hai ... Aj momma thoda sad lag rahi hain ....

Ab ravi confirm ho gaya tha ki uski ne morning wali baat khushi ko nahi batayi thi waise bhi koi maa waisi baat ka jikra apne bachche ke samne kaise kar sakti thi ....

Ravi - okay didi ap jao main ready hokar neeche aata hu breakfast ke liye ...

Khushi waha se chali jati hai aur ravi apna coffee finish krke apne pant mein bada sa tent liye washroom chala jata hai ....

Peechle 2 - 3 dino se ravi ke sath ye sari ghatnaye dhadalle ke sath ghat rahi thi .... Washroom jakar ravi commod par baith kar yehi sari incidence ke bare mein soch raha tha .... pahle aarti ka najara .... reshma ke sath huyi hottest kissing ki dhundhli yaadein .... mrs mehta ke bade bade football .... sagi bahan rajni ki used under garments se ru - b - ru hona .... subeh maa mohini ka manmohak najara aur abhi khushi ke sudaul stano ka bra ke upar se hi najara .... ye sari ghatnaye ravi ke liye bilkul alag sa ehsas tha .... ye sab nature ka ishara tha ya kuch aur pata nahi par ab shayad ravi ki life mein kuch changes aane wali thi ....

Reply

06-19-2020, 01:27 PM,
#22
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की
UPDATE 19

Peechle 2 - 3 dino se ravi ke sath ye sari ghatnaye dhadalle ke sath ghat rahi thi .... Washroom jakar ravi commod par baith kar yehi sari incidence ke bare mein soch raha tha .... pahle aarti ka najara .... reshma ke sath huyi hottest kissing ki dhundhli yaadein .... mrs mehta ke bade bade football .... sagi bahan rajni ki used under garments se ru - b - ru hona .... subeh maa mohini ka manmohak najara aur abhi khushi ke sudaul stano ka bra ke upar se hi najara .... ye sari ghatnaye ravi ke liye bilkul alag sa ehsas tha .... ye sab nature ka ishara tha ya kuch aur pata nahi par ab shayad ravi ki life mein kuch changes aane wali thi ....

AB AAGE

Ravi kuch der baad hi dining table par baitha hua tha aur uparwale se dua kar raha tha ki uski maa breakfast lekar na aaye kyunki wo abhi uska samna karne se ghabra raha tha .... Aur hua bhi bilkul waisa hi kyunki breakfast ki plate uske samne khushi lekar aayi thi ...

Ravi ne jaldi - jaldi mein apna breakfast niptaya aur wapas apne room chala gaya .... Wo abhi ye soch hi raha tha ki kaha jakar time pass kare taki maa se samna na ho ki achanak se uska mobile baj uthta hai call tanu ka tha ....

Tanu - hello bhai sahab kya ho raha hai ...

Ravi - kuch khas nahi didi ap sunao ....

Tanu - agar tum free ho to aa jao ghar .....

Ravi - ok didi ....

Aur fir Ravi tanu se uske ghar ka address leta hai aur khushi ko bata kar ghar se nikal jata hai tanu ke bataye address par ....

Ravi jaise hi tanu ke bataye address par pahunchta hai to uske ghar ke main gate par ek kale kalute pahad jaise aadmi se uska samna hota hai jo ki tanu ka gatekeeper tha ..... Usne pahle ravi ka naam pucha aur fir usko andar jane diya ....

Ravi tanu ke ghar ka doorbell bajata hai ..... Gate tanu ki maa kholti hai ravi unko namaste karta hai to wo usko andar aane ko bolti hai .... Ravi andar jakar sofe par abhi baithne hi wala tha ki tanu ki awaz usko sunayi deti hai ....

"oye hero maine tumhe baithne ke liye thode hi na bulaya hai .... chal tujhe pahle apna ghar ghuma deti hu "

Tanu ne bhi doorbell ki awaz suni thi to wo bhagti huyi aayi thi .... Abhi tanu ne ek cropped top aur ghutno tak wali skirt pahni huyi thi .... Kapdo ke mamle mein waise to tanu kafi sensitive thi par ghar mein wo bilkul free thi uska jo bhi man hota wahi pahanti aur parents ne bhi kabhi usko toka nahi tha .... waise bhi ghar mein uski maa ke siwa tha hi kaun uske father to aksar business ke silsile mein bahar hi rahte the ....

"are beta abhi to ye itne saalo baad hamare ghar aaya hai .... tum baitho beta main tumhare kuch khane ki chije lati hu ... iss jhalli ke chakkar mein rahe to pta chalega pure din bhukhe pet ghumati firati rahegi ..."

"kya maa ap bhi ... chal bhai mere room mein tumhe maine bulaya hai na ki inhone"

Aur fir tanu ravi ka hath pakad kar apne room le jati hai ....

"ye dekho mera room hai ..."

Ravi ne tanu ka room dekha to uska muh khula ka khula rah gaya ... Tanu apne parents ki ekloti beti thi isliye unhone uska room bahut hi khas banwaya tha aur uske room ko itne kareene se sajaya gaya tha ki kya kahna .... Waise to tanu ka ghar fully air conditioned tha par tanu ke room mein sabse mehenga wala a.c. lga hua tha ....

"didi your room is awesome .... agar mera itna acha room rahta to main kabhi isse bahar hi nahi jata ...."

"to ja hi mat ..."

"matlab didi main samjha nahi ..."

"i mean aj tu yehi ruk ja ... waise bhi kal to government holiday hai to tera college to close hi rahega "

"Par didi ghar mein ..."

"just chill yaar auntie ko main mana lungi ab to done kar de ..."

"Okay didi .... as you wish "

Tanu khus ho jati hai aur khushi ke mare ravi ko gale se laga leti hai ... Uske baad tanu ravi ko ko apna pura ghar ek - ek karke dikhlane lagti hai .... Tanu ka ghar 3 floor ka tha jisme rahne wale sirf 3 log the .... Tanu ke papa ne top floor par ek chhota sa gym bhi banwaya tha jisme wo sabhi subeh mein thodi bahut exercise bhi karte the .... Yehi nahi Tanu ke ghar mein ek chhota sa swimming pool bhi tha .... Jab tanu ravi ko pura ghar dikhla kar kitchen ke paas se gujar rahi thi to tanu ki maa kitchen se muskurati huyi nikalti hai ....

"beta maine kaha tha na ki ye jhalli bas tumhe ghumayegi firayegi par khane - pine ko puchegi tak nahi ..."

"mom please ye koi guest thode hi hai jo isko khane - pine ko puchungi ...."

"Dekha beta maine kaha tha na ki ye bilkul jhalli hai ..."

"mom abhi meri baat puri kaha huyi hai ye koi guest thode hi hai jo isko khane - pine ko puchungi balki jabardasti iske muh mein thus - thus ke khilaungi ...."

Fir kuch soch kar tanu ki aankhein nam ho jati hai ....

"mera ek hi to bhai hai jo ki mujhe kitne saalo baad mila hai .... ab main isko kabhi apni jindagi se dur nahi jane dungi ..."

Ravi to thehra emotional banda tanu ka khud ke liye pyar dekh uski bhi aankhein nam ho jati hai aur wo usko gale se laga leta hai .... Wahi tanu ki maa ki bhi aankhein bhar aayi thi dono ka pyar dekh kar .... Bhale hi dono janm se bhai bahan na the par ravi ke apne mama - mami ke ghar jane se pahle jo pyar tha dono ke beech ab wo fir se panapne laga tha .... Abhi dono na jane kitni der ek dusre se lipat kar rote rahte ki tabhi ek awaz se dono hadbada ke alag ho jate hain ....

"Memsahab khana kidhar ko lagana hai bata do re baba ... khana ready kar di main ..."

Ye awaz tanu ki maid kanta bai ki thi jo ki ek typical marathan thi aur 8 saalo se tanu ke ghar kaam kar rahi thi .... Wo tanu ke ghar ke campus mein hi servant quarter mein rahti thi jo ki tanu ke papa ne hi banwaya tha .... Kanta bai ka husband tanu ke ghar ka gatekeeper tha ....

Kuch hi der mein sabka lunch lagna suru ho jata hai ....Tanu ki maa ne wo sari cheejein banwayi thi jo ravi ko bachpan mein pasand thi ....

"bai maa hamara khana ek hi plate mein lagana main apne bhai ko apne hatho se hi khilana chahti hu .... Bahut din ho gaye hain isko apne hath se khilaye huye ..."

Ravi ko achanak se apne bachpan ke jharokho ki yaado mein wo din yaad aa gaye jab uasko hamesa hi tanu hi apne hatho se khilati aayi thi .... Kahne ko to rajni uski sagi bahan thi par bahan ke sare farz nibhaye the tanu ne ...

Tanu apne hatho se niwala bana kar ek niwala ravi ko khilati aur dusra khud khati .... Wo apas mein itne khoye the ki unhe ye khyal bhi na tha ki koi unhe dekh raha hai .... Kanta ke liye ye first time tha isliye wo muh faade dono ko dekh rahi thi aj usko biswas hi nahi ho raha tha ki bhai bahan ka pyar aisa bhi hota hai ....

Khana khatm karne ke baad tanu ne plate mein hath dhoya aur fir handkerchief se ravi ka muh saaf kiya aur usko pani pilaya .... Ab tanu ne kanta bai ko muh faade dekhta paya to bolna suru kiya ....

"kya hua bai maa aise kya dekh rahi ho"

"baba re baba jab bhai se itna pyar karti ho to apne husband se kitna pyar karogi re baba"

"nahi bai maa mere liye bhai se jyada mere liye koi bhi important nahi "

Reply
06-19-2020, 01:28 PM,
#23
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की
UPDATE 20

Khana khatm karne ke baad tanu ne plate mein hath dhoya aur fir handkerchief se ravi ka muh saaf kiya aur usko pani pilaya .... Ab tanu ne kanta bai ko muh faade dekhta paya to bolna suru kiya ....

"kya hua bai maa aise kya dekh rahi ho"
"baba re baba jab bhai se itna pyar karti ho to apne husband se kitna pyar karogi re baba"
"nahi bai maa mere bhai se jyada mere liye koi bhi important nahi "

AB AAGE

Kuch der ke baad tanu ravi ko apne room le jati hai ..... Aur ravi ko rest karne ke liye kahti hai aur khud uske sirhane baith uske sar mein dheere dheere ungliya firane lagti hai jisse ravi kafi sukun milta hai aur wo jald hi so jata hai .....

Evening ke wakt bade pyar se tanu ravi ko jagati hai ....

"bhai .... bhai uth jao na .... dekho evening ho gayi hai .... Aur hame shopping ke liye chalna hai jaldi se ready ho jao ...."

Ravi uth kar dekhta hai ki tanu ready hokar bed par baith kar usko jaga rahi thi ...

"ok didi .... main abhi aata hu "

"maine tumhare liye ek set dress rakh diya hai table par usko hi pahan kar neeche aa jao "

Aur fir tanu apne room se nikal kar neeche chali jati hai ....

Kuch hi der mein ravi ready hokar neeche aata hai .... Hall mein sofe par tanu aur uski maa baith kar tv dekh rahe ....

"good evening auntie .... good evening didi"

"good evening beta ... aj to tum hamare sath rukne wale the na .... to fir ready hokar kaha chal diye"

"Mummy ham log ghumne ja rahe hain .... Wahi aate wakt mall se kuch shopping bhi kar lungi"

"ok beta thik se jana aur jaldi hi wapas aa jana ...."

Ravi ko sath lekar tanu ek restaurant ke aage gaadi rokti hai .... Dono andar jate hain aur ek table par baith jate hain aur apas me baatein karne lagte hain ....

Kuch hi der mein unke table ke paas do log aa kar khade ho jate hain ..... Tanu ne sar utha kar unhe dekha to uske chehre par smile aa jati hai wo khadi ho jati hai apni chair se aur ravi bhi apni chair se uth khada hota hai .... Naye aaye huye logo mein ek ladka aur ek behad stylish ladki thi .....

Tanu - are ap aa gaye .... mujhe to laga apko aane mein der hogi ....

Ladka - apka hukm tha to kaise na aata ....

Tanu - isse miliye ye hai mera sweet bhai ravi ... aur ravi ye hain tumhare honewale jiju Ajay aur ye inki eklauti bahan Naina ....

Ajay ravi se hath milata hai aur fir sabhi chair par baith jate hain .... Waiter aa kar order lekar chala jata hai ....

Naina ko dekh ravi ko aisa lag raha tha jaise usne pahle usko kahi dekha hai par usko theek se yaad nahi aa raha tha ki usne usko kaha dekha hai .... Naina bhi chori chhupe ravi ki taraf dekh kar muskura rahi thi jisse ravi ko bhi shak ho jata hai ki wo bhi usko janti hai ya pahle kabhi usne usko dekha ho ....

Ajay - ravi ji apki didi ne to pahle kabhi apke bare me mujhe bataya nahi .... Waise kya karte hain ap ....

Ravi - abhi to filhal main ***### college se MBA kar raha hu ....

Ajay - wow really tab to ap naina ko jante honge kyunki ye bhi apke hi college se MBA kar rahi hai first year me hai ye ....

Ab ravi ko sara majra samajh aa gaya tha naina ka yu usko chori chhupe dekhna aur smile karna ...

Naina - bhaiya main to inhe janti hu par shayad ye mujhe nahi jante .... Class mein to ye kabhi kabhar hi dikhte hain .... Waise apko bata du ki ye college ke first din se hi popular ho chuke hain .....

Tanu - mera bhai hai hi aisa ....

Tab tak waiter unka order le kar aa jata hai aur sabhi apna apna drink aur fast food khane pine lagte hain aur fir kuch der baad ajay aur naina unse vida lekar nikal jate hain .... Wo kya hai na ki ajay kafi dino se tanu se kahi bahar milne ko kah raha tha to tanu ne aj hi usse milne ko agree huyi thi aur sath hi sath ye condition bhi rakhi ki dono ke sath koi na koi hona chahiye jab wo apas me mile ....

Ab tanu gaadi ko ek mall ki taraf mod deti hai jaha se wo apne aur ravi ke liye kuch kapde ki shopping karti hai ..... Shopping ke baad dono ice cream parlor se ice cream khate huye wapas tanu ke ghar aa jate hain ....

Ghar mein enter karte wakt sare shopping bags ravi ke hi hath mein the .... Door bell ki awaz sun tanu ki maa gate kholti hai .... Sabhi andar enter karte hain ....

Tanu ki maa - haye raam mere phool se bachche se hi sara shopping bags uthwa rahi hai .... Bilkul bechare ko labor bana ke rakh diya iss jhalli ne ....

Tanu - mujh par dosh mat dalo maa isne hi khud sare bags lane ki jidd ki thi ....

Ravi - ap log bekar mein tension le rahi hain ye bags to bahut halke hain ....

Tanu - acha chal mujhe utha le ....

Ravi sare bags ko wahi farsh par rakh deta hai aur tanu ko kisi bachche ki tarah god mein utha kar sofe par bitha deta hai ....

Wahi tanu ki maa bas jor jor se hase ja rahi thi ....

Tanu ki maa - dekha jhalli ab kabhi mere bachche ko challenge mat karna .....

Tabhi tanu ke dimag mein ek shaitani idea aata hai .....

Tanu - acha bhai main to halki fulki hu to mujhe utha kar bada sher ban rahe jara maa ko utha kar tab main manu ki tujhme kitna dam hai ....

Ab ravi buri tarah fas chuka tha wo kabhi tanu ko dekhta to kabhi uski maa ko ....

Reply
06-19-2020, 01:28 PM,
#24
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की
अपडेट 21

तनु की माँ - देखा झल्ली अब कभी मेरे बच्चे को चॅलेंज मत करना .....

तभी तनु के दिमाग़ में एक शैतानी आइडिया आता है .....

तनु - अच्छा भाई मैं तो हल्की फुल्की हू तो मुझे उठा कर बड़ा शेर बन रहे ज़रा माँ को उठा कर तब मैं मानु कि तुझमे कितना दम है ....

अब रवि बुरी तरह फस चुका था वो कभी तनु को देखता तो कभी उसकी माँ को ....

अब आगे

ऐसा ना था कि तनु की माँ राखी भार्गव कोई मोटी महिला थी .... वो काफ़ी फिट थी पर फिर भी उसके असेट्स काफ़ी बड़े बड़े थे .... रवि को यू कन्फ्यूज़्ड स्टेट मे देख राखी को उसके उपर तरस आ जाता है ....

रखी - क्यूँ तनु बेटा क्यूँ परेशान कर रही है मेरे बच्चे को ....

तनु - माँ आपको ये गभृू जवान किस आंगल से बच्चा लग रहा है .... जब मुझे इतनी आसानी से उठा सकता है तो आपको क्यूँ .... सॉरी भाई आज तो मैं तरस खाने के मूड में नही हूँ .... या तो मैने जो कहा है वो कर नही तो सारी लाइफ मुझसे ताने सुनते रहना ....

राखी जानती थी कि तनु जिद्दी टाइप की है और वो अपनी बात मनवाए बिना मानेगी नही .... राखी इशारे से रवि को अपने पास बुलाती है ....

राखी (धीरे से) - बेटा इस झल्ली की बात मान लेने मे ही तुम्हारी भलाई है .... वैसे तुम मुझे उठा तो पाओगे ना ....

रवि - हां आंटी जी क्यूँ नही ..... पूरे कॉन्फिडेन्स के साथ तो नही कह सकता पर अट लीस्ट ट्राइ तो कर ही सकता हूँ .....

और फिर रवि ने राखी को भी देखते ही देखते गोद में उठा लिया था .....

राखी - देखो कैसा वक्त आ गया है कभी मैं तुम्हे गोद में उठाती थी और आज इस झल्ली के ज़िद के चक्कर में तूने ही मुझे गोद में उठा लिया है .... ओके बेटा अब उतार दो ....

रवि राखी को नीचे उतार देता है ....

और फिर कुछ देर बाद रवि और तनु सारे शॉपिंग बॅग्स को तनु के रूम पहुँचा देते हैं ....

तनु - भाई तुझे नीचा बुरा तो नही लगा ना ....

रवि - बुरा .... भला वो क्यूँ ...

तनु - मुझे लगा कि मैने तुमसे जो नीचे करवाया उसके वजह से कही तुम्हे बुरा तो नही लगा ना ....

रवि - नही दी मुझे पता है वहाँ आप मज़ाक से मुझे वो सब कह रही थी ....

तनु - दट'स सो स्वीट ऑफ यू ...

रवि - दीदी आपकी मॅरेज अरेंज्ड है या लव ....

टानू - अजय से मैं पहली बार कहीं नही मिली हूँ बस हम फोन पर ही कनेक्टेड हैं .... वो मेरे पापा के एक फ्रेंड का बेटा है ... पापा ने उसकी फोटो दिखा कर मुझसे मॅरेज के लिए पूछा तो मैने ओके कर दिया .... क्यूँ तुम्हे वो पसंद नही आया क्या ...

रवि - हाँ दीदी वो तो बहुत अच्छे हैं मैं तो ऐसे ही पूछ रहा था .... वैसे वो काफ़ी लकी हैं कि उन्हे आप जैसी खूबसूरत और प्यारी लाइफ पार्ट्नर मिल रही है .....

तनु शरमा जाती है जिससे वो और भी ब्यूटिफुल लगने लगती है ....

तनु - धत्त तू भी ना हर भाई की तरह अपनी बहन की झुटि तारीफ कर रहा है ..... मैं रजनी से तो कम ही ब्यूटिफुल हूँ ....

रवि - नही दीदी आप दोनो ही ब्यूटिफुल हो .... हाँ रजनी दीदी ब्यूटिफुल होने के साथ साथ डेंजरस भी है ....

तनु - डेंजरस .... ह्म्‍म्म्म लगता है उसने फिर से तेरी पिटाई की है ....

रवि - हां दीदी एक बार तो की है .... क्या बताऊ 3 - 4 थप्पड़ ही लगाए थे उन्होने उसमे ही मेरे होंठ फट गये और मेरी तबीयत खराब हो गयी ....

तनु - ये लड़की भी ना .... अब भी तुझे मारती है ....

रवि - एक ही बार मारा है उन्होने ....

अभी वो बातें कर ही रहे थे कि नीचे से राखी की आवाज़ आई जो की उन्हे डिन्नर के लिए बुला रही थी .... वो लोग नीचे उतर कर डिन्नर कर रहे थे कि राखी ने बोलना सुरू किया ....

राखी - बेटा तुम्हारे लिए मैने सामने वाला रूम रेडी कर दिया है वही जाकर सो जाना ....

रवि - जी आंटी ...

तनु - ओये आंटी के बच्चे तुझे आज मेरे रूम मे सोना है ....

रवि - पर दीदी ....

तनु - पर वर कुछ नही सोना है तो सोना है ....

राखी - अच्छा मेरी माँ .... जैसी तेरी मर्ज़ी .....

डिन्नर के कुछ देर बाद तक सभी एक साथ टीवी देखते हैं .... कुछ देर बाद राखी अपने रूम में सोने चली जाती है ...

तनु - ओये उल्लू सारी रात टीवी देखने का इरादा है क्या ....

रवि - नही दीदी चलिए सोने चलते हैं ....

रवि और तनु रूम मे आ जाते हैं ....

तनु - भाई तू यही बैठ तब तक मैं चेंज करके आती हूँ .... मुझे टाइट कपड़े पहन कर सोने की आदत नही ....

तनु एक नाइटी लेकर वॉशरूम घुस जाती है और कुछ देर बाद बाहर निकलती है .... तनु रात को कभी भी कोई अंडर गारमेंट्स पहन कर नही सोती थी वैसा ही उसने आज भी किया .... नाइटी के अंदर वो फुल्ली न्यूड थी ....

तनु - जा तू भी ये जीन्स वग़ैरह उतार कर ट्राउज़र पहन ले .... कम से कम रात को तो अपने बॉडी को थोड़ी कंफर्ट दे ....

रवि - ओके दीदी ....

और फिर रवि भी चेंज करके आ गया और फिर दोनो भाई बहन नींद की वादियो में उतर गये .....

अगली सुबेह को जल्द ही रवि की नींद खुल जाती है क्यूंकी एक्सर्साइज़ की आदत जो थी उसको .... वो जल्दी से फ्रेश हुआ और फिर चल दिया तनु के घर में ही बने हुए जिम में ..... जिम का गेट खुला हुआ था .... रवि अंदर आता है देखता है अंदर कोई लेडी ट्रेडमिल पर जॉगिंग कर रही थी .... अभी उसका फेस दूसरे साइड था इसलिए वो उसका फेस नही देख पा रहा था .... जॉगिंग करने वाली ने एक वाइट टी - शर्ट और ट्राउज़र पहना हुआ था ..... जॉगिंग करने की वजह से लेडी के चुतड़ों मे हो रही थिरकन काफ़ी कामुक लग रही थी .....

रवि भी दोनो हाथो मे एक एक डमब्बेल उठा कर एक्सर्साइज़ करने लगता है तभी वो लेडी ट्रेडमिल से उतार कर पीछे मुड़ती है तो रवि को देखती है जो ताबड़तोड़ डमब्बेल उपर नीचे किए जा रहा था ....

राखी - अरे रवि बेटा तुम .... चलो इस घर मे मेरे और कोई तो आया जिसे फिटनेस की टेन्षन है .....

रवि ने अपना सर उठा कर राखी तरफ देखा जो मुस्कुराती हुई उसकी तरफ देख रही थी ....

रवि - जी आंटी मैं तो रेग्युलर एक्सर्साइज़ करता हूँ .....

रखी - वेरी नाइस बेटा .....

एक्सर्साइज़ करने की वजह से राखी को पसीना आ रहा था और पसीने की वजह से उसका टी-शर्ट भी थोड़ा भीग गया था .... और अभी शायद राखी ने ब्रा नही पहना हुआ था जिसके वजह से उसके निपल टी-शर्ट के उपर से ही पोक कर रहे थे और पसीने की वजह से उसके निपल के चारो तरफ फैले अरेवला थोड़े थोड़े विज़िबल थे .... राखी एक ब्रॉड माइंड की लेडी थी ..... रवि की नज़र ने एक दो उस जगह को स्कॅन किया था चोरी छुपे ....

कुछ देर एक्सर्साइज़ करने के बाद राखी वहाँ से चली जाती है .....

रवि भी कुछ देर एक्सर्साइज़ करने के बाद तनु के रूम आ जाता है और शवर लेने के लिए वॉशरूम घुस जाता है .... तनु भी रवि के वॉशरूम से निकलने से पहले ही उठ जाती है और एक ड्रेस निकाल कर दूसरे रूम में शवर लेने के लिए चली जाती है ....

दोपहर को रवि तनु & फॅमिली से विदा लेकर अपनी बाइक से अपने घर को निकल जाता है .... घर पहुँच कर उसने डोरबेल बजाई तो गेट उसकी माँ मोहिनी ने ही खोला जिससे रवि का दिल ज़ोर ज़ोर से धड़कने लगा .... रवि को जब मोहिनी का चेहरा नॉर्मल लगा तो उसकी जान में जान आई ....

मोहिनी (स्माइल करते हुए) - अब बाहर ही खड़ा रहेगा या अंदर भी आएगा ....

रवि अंदर आ जाता है और जाकर सोफे पर बैठ जाता है ....

Reply
06-19-2020, 01:28 PM,
#25
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की


अपडेट 22

दोपहर को रवि तनु & फॅमिली से विदा लेकर अपनी बिके से अपने घर को निकल जाता है .... घर पहुँच कर उसने डोरबेल बजाई तो गेट उसकी माँ मोहिनी ने ही खोला जिससे रवि का दिल ज़ोर ज़ोर से धड़कने लगा .... रवि को जब मोहिनी का चेहरा नॉर्मल लगा तो उसकी जान में जान आई ....

मोहिनी (स्माइल करते हुए) - अब बाहर ही खड़ा रहेगा या अंदर भी आएगा ....
रवि अंदर आ जाता है और जाकर सोफे पर बैठ जाता है ....

अब आगे

मोहिनी के मोबाइल में उसके हज़्बेंड का कॉल आ गया था जिसके वजह से वो अपने रूम चली जाती है फोन पर बात करते हुए .....

खुशी ने जैसे ही रवि को देखा तो वो किचन की तरफ भागी .... और कुछ ही देर मे एक ट्रे मे जूस के ग्लास और कुछ खाने पीने की चीज़ें लिए हुए रवि के पास आती है ....

रवि - क्या दीदी आप भी ना हमेशा काम करती रहती हो .... आओ आप भी बैठो .....

रवि ने खुशी के हाथ से ट्रे लिया और टेबल पर रख दिया और उसको भी अपने साथ ही सोफे पर बिठा दिया ....

अब रवि ने जूस का एक ग्लास लिया और खुशी की तरफ बढ़ा दिया ....

खुशी - भाई ये मेरी नही तुम्हारे और माँ के लिए है ....

रवि - तो आपका जूस कहाँ है ...

खुशी - व....वो भाई किचन मे ....

रवि - दीदी आप झूठ कब से बोलने लगी ....

खुशी कुछ नही बोलती बस इधर उधर नज़रे करती है ....

रवि फिर से जूस का ग्लास खुशी की तरफ बढ़ाता है .... पर खुशी ना मे सर हिलाती है .....

रवि - दीदी आप मुझसे प्यार नही करती हैं ना ....

खुशी - भाई ये तुम क्या कह रहे हो ....

रवि - तो फिर आप मेरे हाथ से ये जूस क्यूँ नही पी रही हो ....

खुशी रवि के हाथ से ग्लास का पूरा जूस एक ही साँस मे खाली कर देती है ....

खुशी - भाई तुम्हारी हाथ से तो मैं पोइजन भी हँसते हुए पी जाउन्गी .... अब प्लीज़ ये दोबारा ना कहना की मैं तुमसे प्यार नही करती .....

ऐसे ही रवि ने खुद अपने हाथो से ही खुशी को खिलाया भी ..... रवि का प्यार देख खुशी की आँखें भी भर आती है जिसे रवि देख लेता है ....

रवि - क्या हुआ दीदी आप रो क्यूँ रही हो ....

खुशी - आज तक किसी ने मुझे इतने प्यार से नही खिलाया .... तुम्हारा खुद के लिए प्यार देख मैं इन्हे रोक ना पाई ....

रवि - आपका तो नाम खुशी है ना तो आप तो खुस रहने के लिए ही बनी हो .... मैं तो बस अपनी तरफ से आपको खुस रखने की कोसिस कर रहा हूँ ....

खुशी रवि को ज़ोर से गले लगा लेती है .....

खुशी - मैं उपरवाले से दुआ करूँगी हर जनम मे वो तुम्हे मेरा ही भाई बनाए ....

वो दोनो आपस मे इतने खोए हुए थे कि उन्हे पता ही ना चला कि कोई उन्हे बड़े देर से देख रहा था .... वो कोई और नही रवि की माँ मोहिनी ही थी ....

मोहिनी (अपने मन में) - देखो तो कितना प्यारा है मेरा बेटा ... जब ये अपनी मूहबोली बहन से इतना प्यार करता है तो अपनी माँ से कितना प्यार करता होगा .... कल सुबेह जो भी हुआ उसमे इस बेचारे का क्या दोष ये तो बस मुझे आया था ....

मोहिनी बिना कोई आहट किए वापस अपने रूम चली जाती है ....

रात मे वैसा कुछ खास नही हुआ सभी अपने अपने रूम मे जाकर सो गये .... रजनी अभी भी घर नही लौटी थी वो 2 दिन बाद घर आने वाली थी ....

अगले दिन जब रवि कॉलेज पहुँचा तो उसका सामना सबसे पहले चिराग से हुआ ....

चिराग - और सूनाओ भाई कैसे हो ...

रवि - तेरे सामने ही खड़ा हूँ सिंगल पीस मे ....

चिराग - नाइस जोक .... यार उड़ती उड़ती खबर मिली है कि 2 दिन बाद से हमारे एग्ज़ॅमिनेशन सुरू होने वाले हैं ....

तभी पीछे से एक चिर परिचित आवाज़ आई ....

झांवी - हां हां क्यूँ नही जब उड़ान तस्तरी हो उड़ती हुई चीज़ से ही तुम्हारा सामना होगा ना ....

चिराग गुस्से से उसकी तरफ देखता है ....

रवि - हाई झांवी ...

झांवी - हेलो हॅंडसम .... यार मैने तुम्हे पिछली बार भी कहा था कि क्यूँ किसी ऐरे गैरे को साथ लिए घूमते फिरते हो ....

चिराग - ओये तू कौन सी यहाँ की ब्यूटी क्वीन है .... आईने मे शकल देखी है क्या कभी अपनी .... बंदरिया

झांवी - ओये चपडगंजू दमे के मरीज .... एक फूँक मारूँगी ना जिंदगी भर हवा मे ही उड़ता रहेगा ....

चिराग - बड़ी आई फूँक मारने वाली ....

रवि - गाइस अब शांत भी हो जाओ या यही वर्ल्ड वॉर 3 करवाना है ...

ठीक तभी फर्स्ट पीरियड सुरू होने का बेल बज जाता है .... तीनो जल्दी जल्दी अपने क्लास की तरफ भागते हैं .... अभी कोई टीचर क्लास नही आया था .... रवि और चिराग जाकर अपने बेंच पर बैठ जाते हैं .... तभी अचानक से रवि को नैना का ख्याल आया तो उसने चारो तरफ नज़रे घुमाना सुरू किया तो पाया कि उससे दो बेंच पीछे बैठी है और उसको ही देख मुस्कुरा रही है .... रवि ने इशारे से ही उसको "हाई" किया जवाब मे उसने भी मुस्कुरा कर रिप्लाइ किया .... चिराग रवि की हर आक्टिविटी को गौर से देख रहा था ....

तभी क्लास मे एक प्रोफेसर आ जाता है उसका लेक्चर सुरू हो जाता है ....

चिराग - यार तू चीज़ क्या है .... मैं महीनो से उस लड़की से बात करने के लिए मरा जा रहा हू और तूने पहली बार ही उस लड़की को देखा तो वो तुझे लाइन देने लगी ....

रवि - साले वो मेरी रिलेटिव है आइ मीन रिलेटिव बनने वाली है ... तू हर चीज़ का ग़लत मतलब ना निकाल ....

चिराग - भाई मैने कुछ ग़लत कह दिया हो तो सॉरी ...

तभी प्रोफेसर ने चिराग को फुसफुसाते देखा तो उसको लास्ट बेंच पर बिठा दिया कोने मे .... उस प्रोफेसर की 2 पीरियड कंटिन्युयेशन मे थी इसलिए चिराग को वही पर बैठा रहना पड़ा ....

रिसेस में नैना रवि के पास आती है ....

नैना - इफ़ यू डॉन'ट माइंड कॅन आइ सीट हियर ....

रवि - वाइ नोट बी कंफर्टबल ....

नैना रवि के ही बेंच पर उसके साथ बैठ जाती है ... अभी रिसेस कॅटीम था इसलिए सभी स्टूडेंट कॅंटीन जा चुके थे .... रवि और नैना के अलावा सिर्फ़ एक शक्स उस वक्त क्लास मे मौजूद था वो था चिराग .....

नैना - आपने तो अपना लंच बॉक्स नही लाया होगा ....

रवि - आदत ही नही है .... चाइल्डहुड मे भी नही ले जाता था और अब तो कोई सवाल ही नही पैदा होता ....

नैना - वैसे आज से आपको कॅंटीन का बेकार खाना खाने की ज़रूरत नही .... आपके लंच बॉक्स की ज़िम्मेवारी मेरी .... चलिए जल्दी से कुछ खाते हैं वरना रिसेस ओवर हो जाएगा ....

और फिर दोनो मिलकर लंच बॉक्स को एंप्टी कर देते हैं ....

रिसेस ओवर होने बेल बजते ही सभी लोग वापस क्लास आ जाते हैं ... नैना वापस अपनी जगह चली जाती है और चिराग वापस रवि के बगल में जाकर बैठ जाता है ....

रवि - अरे यार तू कहाँ चला गया था ...

चिराग - यही था और कहाँ जाउन्गा .... देखा मैने कैसे तू अपनी सो कॉल्ड रिलेटिव के साथ कैसे चटकारे लगा कर खा रहा था ....

रवि - अरे यार ये धुवा कहाँ से उठ रहा है .... उफ़फ्फ़ ये तो जलने की गंध है ....

चिराग - हां हां उड़ा ले मज़ाक ....

रवि - सॉरी यार मैं तो मज़ाक कर रहा था ... मैने सच मे तुझे नही देखा ...

तभी क्लास में एक प्रोफेसर आ जाती है अपने बड़े बड़े चुतड़ों को हिला हिला कर लेक्चर देने लग जाती है .... उसके क्लास मे स्टूडेंट्स उसके लेक्चर पर कम और उसके बड़े बड़े बॅस्केटबॉल टाइप पिछवाड़े पर ज़्यादा कॉन्सेंट्रेट करते थे ....

चिराग (धीरे से) - साली पता नही किस चक्की का आटा खाती है ...

रवि - अबे क्या बोल रहा है तू ....

चिराग - यार देख नही रहा कितने बड़े बड़े चूतड़ हैं साली के पक्का ये रात भर गान्ड मरवाती होगी ....

रवि का भी ध्यान मेडम के पिछवाड़े की तरफ जाता है .... मेडम ने अभी सलवार सूट पहना हुआ था और ब्लॅक बोर्ड पर लिखते वक्त उसके चुतड़ों में अजीब सी थिरकन पैदा होती थी .... ये सब देख और अस्यूम करके उसका नन्हा उस्ताद भी अपने वजूद का एहसास रवि को करवाने लगा था ....

चिराग - साली के चुचे तो देखो .... लगता है कि अभी दबाया जाए तो दोनो थनो से कम से कम 2 - 2 लीटर दूध निकलेगा .... वाह कितना मज़ा आता होगा इसके पति को इसकी चुदाई करने मे ....

रवि बस चुप चाप चिराग की बातो को सुन रहा था और मेडम के उपर अपनी आँखो से प्रॅक्टिकल कर रहा था .... कुछ देर बाद पीरियड ओवर होने का बेल बज जाता है और मेडम अपने बड़े बड़े चुतड़ों को मटकती हुई क्लास से चली जाती है ....

रवि का नन्हा उस्ताद अब उग्र रूप ले चुका और सल्यूट पर सल्यूट मारे जा रहा था .... वो तो जीन्स और फ्रेंची की वजह से उसके अंडरवेर के अंदर की हालत से दुनिया अंजान थी ....

छुट्टी होते होते रवि की हालत नॉर्मल हो चुकी थी और वो झांवी को ड्रॉप करते हुए अपने घर आ जाता है ....
Reply
06-19-2020, 01:28 PM,
#26
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की
UPDATE 23

Ravi bas chup chap chirag ki baato ko sun raha tha aur madam ke upar apni aankho se practical kar raha tha .... Kuch der baad period over hone ka bell baj jata hai aur madam apne bade bade chutado ko matkati huyi class se chali jati hai ....
Ravi ka nanha ustad ab ugra roop le chuka aur salute par salute mare ja raha tha .... Wo to jeans aur frenchie ki wajah se uske underwear ke andar ki halat se duniya anjan thi ....

Chutti hote hote ravi ki halat normal ho chuki thi aur wo jhanvi ko drop karte huye apne ghar aa jata hai ....

AB AAGE

Ravi jaldi se apne room jakar dress change karke washroom ghus jata hai aur shower lene lagta hai .... Shower lene ke baad wo khud ko refresh feel karta hai ....

Kuch din aise hi shaanti se gujar gaye aur ab tak rajni aur ravi ke father bhi ghar aa chuke the .... Chirag bhi ravi ko bigadne ka apna kaam jari rakhe huye tha .... jhanvi aur naina ki bhi friendship ravi ne karwa di thi aur sab mila jula kar ravi ki life achi chal rahi thi .....

Aise hi ek raat ko ravi soya hua tha ki uska mobile ring hone lagta hai jisse ravi ki neend khul jati hai aur wo call pick karta hai call chirag ka tha ....

"hello bolo chirag .... itne raat ko kyu call kiya"

"bhai kaisa hai tu aur aj college kyu nahi aaya tha "

"main thik hu "

"sahi kiya jo nahi aaya are main to kahta hu ki kuch din tu college aa bhi mat kyunki jin ladko ki pitayi ki thi na tune college ke first din wahi log aj tujhe dhundhte huye class aaye the .... aj pata nahi tu bhi hota to kya gajab ho jata ... mujhe na unke irade sahi nahi lag rahe the .... "

"to kya hota uss din bhi pite the aj fir se pit jate"

"bhai tu unhe casually mat le ... suna hai ki unme se ek ka bhai bahut dangerous aadmi hai jo ki kuch dino pahle hi tihad jail se nikal kar aaya hai .... main to kahta hu ki tu kuch dino ke liye underground ho ja ...."

"yaar tu to aise bol raha hai jaise ki maine koi galti ki ho ... chal main phone rakhta hu milte hain kal class me ..."

"bhai tu ...."

Abhi chirag ne itna bola hi tha ki ravi ne phone disconnect kar diya ....

Agli subeh bhi normal hi huyi aur ravi ne bhi raat ke phone call ki baat kisi ko na batayi .... Wo normal dino ki tarah ready hokar apne bike se college pahuncha .... College ka mahaul bhi normal hi tha bas ek ajeeb si shaanti chhayi huyi thi jo ki kisi tufaan ke aane ka andesha tha jisse anjan ravi aage badhta ja raha tha ....

Aj jhanvi,naina ya chirag koi bhi usko nahi dikhe jo ki baki dino se alag tha .... Ravi aj baki dino se kuch pahle hi college pahuncha hua tha ... Abhi class start hone me kuch deri thi isliye usne socha ki kyu na kuch der canteen me bita liya jaye .... Ravi dheere dheere chalta hua canteen pahuncha jaha par ekke dukke student hi dikh rahe the ...

Ravi ne counter par coffee order kiya .... Abhi ravi ne coffee ke ek do sip hi liye the ki canteen ke samne hi dhad - dhad krke 3 - 4 gaadiya aakar rukti hai .... Gaadiyo se 15 - 20 hatte katte admi nikalte hain ....

"bhaiya wo dekho usne hi mujhe mara tha ...."

Sabhi log tez kadmo se chalte huye ravi ke kareeb aate hain .... unme se kisi ke hath mein lathi thi to kisi ke hatho mein hockey stick .... Dekhne me bhi sab gunde mawali hi lag rahe the ...

"Oye launde tune hi mere bhai ko mara hai ...."

"bhaiya ye uss din ek masum si ladki ki ragging le raha tha .... maine isko roka to isne meri family ke bare me ulta seedha bola aur ladayi bhi inhone hi suru ki thi ... puch lijiye apne bhai se "

" abe tu koi maseeha hai kya jo kisi bhi ladki ko bacha le jayega .... chalo apna introduction to ho jana chahiye .... Pahle tu hi suru kar apni bari last me"

"mera naam hai ravi saxena ... "

"oye tu kahi famous industrialist raj saxena ka launda to nahi hai ..."

"ji haan"

"okay chal thik hai ... apan wo hai jiske naam se hi ye ilaka thar - thar kanpta tha .... par ab iss baat ko 4 saal ho gaye ... kya hai ki apan murder ke silsile me tihad jail me kaid tha ... kal subeh ko hi wapas lauta hu .... bade naazo se pala hai maine mere bhai ko iske chehre par ek shikan tak dekhna mujhe gawara nahi aur tune isko mara to soch mujhe kitna bura laga hoga .... waise log mujhe pyar se terror bhai bulate hain ...."

"bhaiya maine kuch galat nahi kiya tha biswas na ho to puch lo college ke kisi student se ..."

"yaar apan koi lawyer wagairah nahi hai to mere se ye puch tach wala kaam na hoga .... main to sirf ye janta hu ki tune mere bhai par hath uthaya ...."

Ab tak canteen me bhid jama ho chuki par sab sirf muk darshak bhar the ....

"bhaiya thik hai bolo mujhe kya karna hoga main ladayi jhagde ke sakht khilaf hu .."

"yaar suna hai teri bahan badi namkeen hai aur upar se ek honest police inspector bhi ... usko mere bistar par sula de main teri har galti maaf kar dunga ..."

Abhi uss terror naam ke bande ne ravi ko ye kahkar hasne ke liye chaha hi tha ki ravi ka ek jabardast punch uske jabde par pada jisse uske front ke 8 daant ne uske muh se sari dosti yaari tod di aur masudo se khoob bilbla kar nikalne lage ....

"Bas beta maine bardast karne ki kaafi kosish kar li par tune meri jaan se bhi pyari bahan ke liye jo bhadde shabd kahe usse pani sar se upar ho gaya ab tum sab ki khair nahi .... hoga tu sher jamane me par aj teri halait sade naali ke keede ke jaisi hai ..... ma#2#@od tab se ijjat se baat kar raha to sar par chadh raha hai ..... tujhe dekh kar hi pata lag raha hai ki tu ki kitna bada sher hai ek akele ladke se ladne ke liye itne sare log laya hai .... sale harami gande naali ke keede ...."

"sale suwar ke bachcho dekh kya rahe ho maro sale ko .... Aur tab tak maro jab tak ye mar na jaye ....."

Ab terror ke 3 aadmi ravi ki taraf badhe ek admi ne ek jordar punch ravi ko mara jisse jhukte huye ravi bach gaya aur dusre aadmi ke pet me ek jabardast punch mara jisse wo apna pet pakad kar jameen par lotne laga ....

Ravi ne bakiyo ko bhi aise hi furti ke sath neeche gira diya .... Ravi abhi sambhla bhi na tha ki uske mathe par kisi ne dande se waar kar diya jisse khoon ki ek patli si lakeer ban gayi .... Ravi ne uss dande wale se danda chhina aur fir ek jordar dande ke prahar se usko jameen par gira diya ... Tab tak 2 - 3 admi uss so called terror bhai ko uske bhai sahit gaadi me daal hospital le gaye ....

Ab ravi charo taraf se gundo se ghira hua tha .... Sabhi tabadtod hockey stick ya dando se ravi par prahar kar rahe the ravi bhala ek dande se kab tak unka mukabla kar pata .... Ravi ke upar bhi kuch prahar ho gaye the ....

Tabhi bheed ko chirta hua chirag beech me aata hai wo abhi thode der pahle hi college aaya tha .... ek baar to ravi ko gundo ke beech me ghira dekh uski bhi halat patli ho gayi fir usne bolna suru ....

Chirag - tum sab sirf tamasha hi dekhna .... tumhare liye college gate par jis inspector madam ne ladayi ki thi wo iski hi bahan thi .... jis ladki ko ragging se mere dost ne bachaya tha wo iski koi nahi lagti thi are ye to usse pahli dafa mila tha ... main ja raha hu apne dost ki taraf se ladne ... main janta hu main unke samne tik na paunga par agar main mar bhi gaya na to mujhe afsos nahi hoga kyunki maine to ek sachche dost ki dosti nibhayi .... Par tum logo ka kya tumhe to ek live fight show dekhne ko mil raha hai jao popcorn kharid lo aur iss fight ka lutf uthao ....

Chirag ne aas paas dekha to ek danda usko dikhayi deta hai wo danda lekar ek gunde ki peeth par jor se marta hai .... ab haal ye ye tha ki 3 - 4 gunde chirag ki bhi khatirdari karne lage .... Ab ravi pahle se thode asani se fight kar raha tha .... Usne ab 2 - 3 aur gundo ko sula diya tha ...

Tabhi ek gunde ne dhokhe ravi ke peeth mein chaku ghop diya .... Ravi ke muh se ek dard bhari siski nikli jo ki fizawo me fail gayi ....

Ab ravi ki aankho me khoon utar aaya tha ... Ravi ne uss chaku wale se chaku chhina aur pahle to uske dono hatho ko toda uske baad uski ek aankh me chaku ghop diya aur fir ek bhayanak garjana ke sath baki bache 7 - 8 gundo ki taraf dekha .... ravi ka white shirt khoon se san ka laal ho chuka tha tha aur chehre par bhi kaafi chot ke nisan the .... Ravi josh me khada to tha par uski himmat jawab de gayi thi uske aankho ke samne sab kuch ghumta hua pratit ho raha tha ....

Chirag to adhmari halat me jameen par gira hua tha ....

Naina aur jhanvi bhi bheed se nikal kar ravi ki taraf bhagi ... Wo bhi aj late se college pahunchi thi kyunki raste mein hi unki gaadi kharab ho gayi thi ....

Ek gunda - oye hat jao ham ladkiyo par hath nahi uthate ....

Naina - to ek akele nihathe ladke par hath utha kar kaun si mardangi show kar rahe ho ....

Jhanvi - aur tum sab bas hijdo ki tarah ye sab dekhte rahna .... are tum log agar sirf sath khade ho jate na to inn haramiyo ki kya majal jo ye college campus me ghus kar kisi student ko chhu bhi sake ....

Dusra gunda - oye jhanshi ki rani koi fayda nahi ....

Abhi uss gunde ne itna bola tha ki bhid se nikal kar ladkiyo ne sabhi gundo ki marammat karni suru kar di thi .... Jhanvi aur naina girls mob ka sath dene me jut gayi .... Thik tabhi police ki gaadi ki siren sunayi deti hai aur police inspector rajni saxena bhagti huyi ravi ke kareeb pahunchti hai uski halat dekh uska kaleja uske muh ko aa jata hai .... Apni bahan ko dekh ravi ke chehre par smile aa jati hai ....

Ravi (dard bhari awaz mein ) - diddddddiiiiiiiiiiiii .....

Ravi ke pao ladkhada jate hain aur aankhe band ho jati hai aur wo jameen par girne hi wala hai ki rajni ne apne majbut haatho me usko tham liya tha aur usko apne seene se laga kar fafak fafak kar ro padi .... Ravi to behos pada hua tha apni badi bahan ki baanho me aur uska sareer uske hi khoon se sana hua tha aur uski saanse bhi bahut dheemi chal rahi thi .....
Reply
06-19-2020, 01:29 PM,
#27
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की
अपडेट 24

ठीक तभी पोलीस की गाड़ी की साइरन सुनाई देती है और पोलीस इनस्पेक्टर रजनी साक्शेणा भागती हुई रवि के करीब पहुँचती है उसकी हालत देख उसका कलेजा उसके मूह को आ जाता है .... अपनी बहन को देख रवि के चेहरे पर स्माइल आ जाती है ....

रवि (दर्द भरी आवाज़ में ) - दिद्द्द्ददडिईईईईईईईईईईई .....

रवि के पाँव लड़खड़ा जाते हैं और आँखे बंद हो जाती है और वो ज़मीन पर गिरने ही वाला है कि रजनी ने अपने मजबूत हाथो मे उसको थाम लिया था और उसको अपने सीने से लगा कर फफक फफक कर रो पड़ी .... रवि तो बेहोश पड़ा हुआ था अपनी बड़ी बहन की बाँहो मे और उसका सरीर उसके ही खून से सना हुआ था और उसकी साँसे भी बहुत धीमी चल रही थी .....

अब आगे

रजनी ने सबसे पहले आंब्युलेन्स बुलाया और रवि,चिराग और बाकी इंजूर्ड लोगो को हॉस्पिटल भिजवाया और घर पर कॉल करके अपनी माँ और पापा को रवि के ज़ख्मी होने की सूचना दी .... रजनी अभी ड्यूटी पर थी इसलिए उसने झांवी और नैना को रवि को रवि की देखभाल के लिए साथ भेजा था ....

रजनी ने सबसे पहले कॅंटीन वाले से अभी कुछ देर पहले हुई झड़प के बारे मे पूछ ताछ की .... कॅंटीन के मालिक ने रजनी को अपने सीसीटीवी कॅमरा की फुटेज दिखा दी जिसमे वीडियो तो पूरा क्लियर दिख रहा था और ऑडियो भी काफ़ी हद तक सॉफ सुनाई दे रहा था ....

फुटेज देखने से एक चीज़ तो क्लियर हो गया था कि इस फाइट मे रवि की कोई ग़लती नही क्यूकी उसने जहाँ तक हो सकता है फाइट ना करने पर ही ज़ोर दिया था ....

रजनी (अपने मन मे ) - मेरा भाई कितना प्यारा है और वो मुझसे कितना प्यार करता .... वो मेरे खिलाफ एक भी वल्गर वर्ड भी नही सुन सकता .... उसने ये लड़ाई मेरी खातिर लड़ी है .... भाई मैं तुझे कुछ नही होने दूँगी आज मेरे दिल मे जमी हुई सारी धूल सॉफ हो चुकी है .... मैं तुझे कुछ नही होने दूँगी .... जो लोग भी तेरी इस हालत के ज़िम्मेवार हैं मैं उन सभी कामीनो को ऐसी सज़ा दूँगी जो मौत से भी बदतर हो ....

रजनी का खून खौल उठा था पर चेहरे पर उसने अपने एमोशन्स आने नही दिए ... रजनी ने फुटेज की सारी रेकॉर्डिंग अपने मोबाइल मे सेव कर लिया और फिर हॉस्पिटल की तरफ भागी जबकि बाकी के पोलीस वाले सभी गुन्डो को जीप मे डाल कर थाने ले गये ....

रजनी जब हॉस्पिटल पहुँचती है तो वो हड़बड़ी मे किसी किसी से टकरा जाती है .... रजनी की नज़र जब टकराने वाले शख्स पर पड़ती है तो वो भी चौंक जाती है ....

रजनी - अरे रेशमा तू यहाँ ....

रेशमा - हां यार मैं एक डॉक्टर हूँ और लास्ट वीक ही मेरी यहाँ पोस्टिंग हुई है .... वैसे तू इस यूनिफॉर्म मे मस्त लग रही है ..... तू बता तू यहाँ कैसे और ये तेरी यूनिफॉर्म पर खून कैसे ....

रजनी की आँखो मे आँसू छलक आते हैं ....

रेशमा - अरे यार तेरी आँखो में आँसू कैसे ... बता ना मेरी बहन क्या हुआ है ....

रजनी - व.....वो रेशू मेरे भाई की कंडीशन बहुत क्रिटिकल है क्यूंकी उसका सारा सरीर खून से सना हुआ है ....

रेशमा - तेरा भाई ... पर तूने आज तक हमे कभी बताया नही कि तेरा कोई भाई भी है ....

रजनी - यार वो सब फिर कभी बताउन्गा .... फिलहाल तो उससे मिलने जा रही हूँ ...

रेशमा रिसेप्षन पर जाकर पूछ ताछ करती है और फिर मिलकर रवि के कॅबिन के तरफ भागते हैं ... रवि के फॅमिली वाले वही खड़े थे ....

रजनी - पापा क्या कहा है डॉक्टर ने कैसा है अब मेरा भाई ....

राज - बेटा डॉक्टर ने जनरल चेक अप किया है और कहा है सर मे काफ़ी चोटे आई हैं और ऑपरेशन करवाने की सलाह दी है ....

रजनी - हां तो फिर क्या प्राब्लम है ऑपरेशन करवाते हैं ना ....

रेशमा - नमस्ते अंकल मैं हूँ रेशमा रजनी की फ्रेंड ...

राज - हेलो बेटा ...

रेशमा - अंकल मैं इस हॉस्पिटल मे एक डॉक्टर के साथ साथ एक सर्जन भी हूँ .... आप टेन्षन ना ले ... मैं भी साथ हूँगी ऑपरेशन के वक्त ....

मोहिनी - बेटा बचा लेना मेरे बेटे को ....

रेशमा - डॉन'ट वरी आंटी रजनी मेरी सहेली है और उसका भाई है तो मेरे भी भाई जैसा हुआ ना .... आइ विल ट्राइ माइ बेस्ट ....

और फिर रेशमा एक कॅबिन के तरफ बढ़ जाती है कुछ देर मे रवि को ऑपरेशन थियेटर मे ले जाया जाता है कुछ ही देर मे सर्जन की ड्रेस पहने हुए कुछ डॉक्टर्स आते हैं जिन मे से एक रेशमा भी थी .... नज़रो से ही उसने रजनी को फेत रखने को कहा ....

सब डॉक्टर्स के अंदर घुसते ही ऑपरेशन थियेटर बंद हो जाता है और रेड बल्ब ऑन हो जाता है ....

रजनी अपने पेरेंट्स और खुशी को ऑपरेशन थियेटर के बाहर लगे हुए बेंच पर बिठाती है ....

मोहिनी - बेटा ये सब कैसे हो गया और तुम कहाँ थी ....

रजनी - माँ अभी इन सब बातो का वक्त नही है .... वो सब बाद में अभी तो भाई का ठीक होना ज़्यादा ज़्यादा ज़रूरी है ....

खुशी ने जब से रवि के बारे मे सुना तब से वो कंटिन्यूवस्ली रोती जा रही .... रजनी ने उसके पोन्छे और उपरवाले पर भरोशा रखने की गुज़ारिश की ....

रजनी झांवी के पास आती है जो काफ़ी देर से गुमशुम खड़ी थी ....

रजनी - झांवी वो लड़का कहाँ है जो साथ मे आंब्युलेन्स पर आया था ....

झांवी - जी दीदी उसको भी काफ़ी चोटे आई है और वो फिलहाल सोया हुआ है .... डॉक्टर्स ने उसका प्लास्टर कर दिया है .... उसके फॅमिली के बारे मे हम कुछ खास नही जानते बस रवि से ही वो थोड़ा क्लोज़ था ... नैना उसके पास ही रुकी है ...

रजनी - ओके तुम यहीं रूको तब तक मैं आती हूँ उससे मिलके और हां यहाँ मेरी ज़रूरत हो तो कॉल कर देना ....

रजनी अभी कुछ आगे ही बढ़ी थी कि तनु और उसकी माँ हड़बड़ी में उसकी तरफ आते दिखे दोनो की आँखें नम थी ....

रखी - बेटा रवि बेटा कहाँ है और कैसा है ....

रजनी दोनो को शॉर्ट कट मे सब कुछ बताती है और अपने पेरेंट्स के पास बिठा कर खुद चिराग की हालत का जाएजा लेने निकल पड़ती है ....

चिराग अभी बेड पर सोया हुआ था उसके दोनो हाथ और पाँव मे प्लास्टर चढ़े हुए थे और नैना वही रूम के बाहर बैठी हुई थी रजनी को देख वो खड़ी हो जाती है ....

रजनी - बैठो बैठो क्या कहा है डॉक्टर ने कब तक इसको होश आ जाएगा ...

नैना - वो मेडम डॉक्टर कह रहे थे कि बस बाहरी चोट है और आराम के लिए उन्होने नींद की दवा दी है ...

रजनी - ओके इफ़ यू विश मे गो होम नाउ ...

नैना - नही मेडम रवि की हालत जाने बगैर मैं घर नही जाउन्गी ना ही कुछ खाउन्गी ....

रजनी - वाउ लगता है काफ़ी क्लोज़ थी तुम उसके ....

नैना - नही मेडम हमारी जान पहचान तो कुछ दिनो पहले ही हुई पर 7 - 8 दिनो मे ही ऐसा लगा जैसे मैं उसको सदियो से जानती हूँ ...

रजनी - कहने को तो मैं उसकी सग़ी बहन हूँ पर आज तक उसको कभी समझ नही पाई या यूँ कहो कि समझना चाहा ही नही ...

नैना - मेडम वो बहुत अच्छा है ...

रजनी - ये क्या बार बार मेडम मेडम लगाए रखा है दीदी नही कह सकती ....

नैना - ओके दीदी ....

रजनी का मोबाइल रिंग होने लगता है उसने कॉल पिक किया कॉल उसके मामा का था ....

दीपक - बेटा हम लोग एरपोर्ट पहुँच गये हैं तुम्हारी मामी भी साथ है ज़रा हॉस्पिटल का लोकेशन भेजना हमलोग तुरंत पहुँच रहे हैं ....

रजनी हॉस्पिटल का अड्रेस उन्हे सेंड करती है ....

कुछ ही देर में दीपक और दिया भी हॉस्पिटल पहुँच जाते हैं .... अभी भी ऑपरेशन थियेटर का गेट नही खुला था और सभी बेसब्री से डॉक्टर्स के बाहर निकलने का वेट कर रहे थे ....

थोड़े देर बाद ऑपरेशन थियेटर का गेट खुलता है और सभी डॉक्टर्स निकलने लगते हैं ....

राज भागता हुआ डॉक्टर्स के पास जाता है ....

राज - डॉक्टर साहब कैसा है मेरा बेटा ....

एक डॉक्टर - आप पेशेंट के फादर हैं ना ....

राज - जी हाँ ....

डॉक्टर - आप जल्दी से मेरे कॅबिन आइए आपसे कुछ बात करनी है ....

राज के साथ साथ दीपक भी भी डॉक्टर के कॅबिन मे आ जाता है और डॉक्टर उन्हे चेर पर बैठने को कहता है ....

डॉक्टर - हमने ऑपरेशन तो कर दिया है .... सर पर चोट लगने की वजह से पेशेंट का काफ़ी ब्लड गिरा है .... पेशेंट को एक या 3 - 4 यूनिट ब्लड की ज़रूरत है ओ नेगेटिव ग्रूप की ..... और हां ब्लड अगर एक घंटे के भीतर मिल जाए तो ज़्यादा अच्छा है ....

राज - ओके डॉक्टर हम जल्द ही उसकी व्यवस्था करते हैं .....

राज और दीपक जल्दी से कॅबिन से बाहर भागते हैं ....

दोनो जल्दी से ब्लड बॅंक की तरफ भागते हैं .... काफ़ी सर्च करने पर भी उन्हे सेम ग्रूप का ब्लड नही मिलता है ....

दीपक - जीजा जी क्या हमारी फॅमिली मे किसी का ब्लड ग्रूप ओ नेगेटिव नही है ....

राज - मेरा , मोहिनी या रजनी का तो नही है ....

दीपक - मेरा और दिया का भी डिफरेंट ब्लड ग्रूप है ....

राज - चलो ना वापस हॉस्पिटल ही चलते हैं शायद कोई डोनर मिल जाए ....

राज और दीपक वापस हॉस्पिटल पहुँचे और उन्होने सभी को ये बात बताई ..... वहाँ मौजूद सभी लोगो मे से किसी का ओ नेगेटिव ब्लड ग्रूप नही था ....

खुशी - पापा मैने कभी ब्लड टेस्ट करवाया नही मैं देखना चाहती हूँ क्या मेरा खून भाई के काम आ सकता है ....

रेशमा - आप मेरे साथ आइए मैं आपका ब्लड ग्रूप चेक कर लेती हूँ .....

रेशमा खुशी का ब्लड ग्रूप चेक करती है जो कि बाइ लक ओ नेगेटिव ही था जिससे खुशी के चेहरे पर स्माइल आ जाती है ....

रेशमा खुशी को साथ लेकर बाकियो के पास पहुँचती है ....

रेशमा - अंकल खुशी की बात है कि हमे डोनर मिल गयी है खुशी दीदी ....

रेशमा जल्दी से जाकर मैं डॉक्टर को ये बात बताती है .... वो भी ज़रूरी समान लेकर वहाँ पहुँचता है ....

डॉक्टर - कौन है डोनर ....

खुशी आगे आती है ....

डॉक्टर - मेडम आप जानती हैं की पेशेंट का काफ़ी खून बहा है और हमे अप्रॉक्स 3 - 4 यूनिट ब्लड की ज़रूरत है और ये काफ़ी ज़्यादा होता है ....

खुशी - डॉक्टर साहब मैं एक ऑर्फन हूँ मुझे इन्होने पाल पोश कर बड़ा किया ... हमेशा मुझे अपनी बेटी ही माना है ... मैने जिंदगी भर इनसे लिया ही है आज पहली बार कुछ देने का वक्त आया है तो मैं पीछे कैसे हट सकती हूँ .... वैसे भी जिसे मेरे खून की ज़रूरत है वो मेरे लिए दुनिया में सबसे अज़ीज़ है .... उसके लिए अगर मुझे अपने जिस्म से खून का आख़िरी कतरा तक देना पड़ा तो भी मुझे अफ़सोस नही होगा ....

वहाँ खड़े सभी लोग खुशी की बात सुन भावुक हो चुके थे ....

डॉक्टर - आइ आम प्राउड ऑन यू मेडम .... आप जैसे लोगो की वजह से ही इस मतलबी दुनिया मे भी अब तक इंसानियत बची हुई है ....

डॉक्टर खुशी को लेकर ऑपरेशन थियेटर के अंदर चला जाता है और बाहर बैठे सभी लोग सब कुछ ठीक तक रहने की उपरवाले से दुआ करने लगते हैं ....
Reply
06-19-2020, 01:29 PM,
#28
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की
अपडेट 25

वहाँ खड़े सभी लोग खुशी की बात सुन भावुक हो चुके थे ....

डॉक्टर - आइ आम प्राउड ऑन यू मेडम .... आप जैसे लोगो के वजह से ही इश्स मतलबी दुनिया मे भी अब तक इंसानियत बची हुई है ....

डॉक्टर खुशी को लेकर ऑपरेशन थियेटर के अंदर चला जाता है और बाहर बैठे सभी लोग सब कुछ ठीक तक रहने की उपरवाले से दुआ करने लगते हैं ....

अब आगे

डॉक्टर ने खुशी के बॉडी से करीब 2 & हाफ यूनिट ब्लड ट्रान्स्फर किया रवि के बॉडी मे और उसके बाद खुशी को बाहर भेज दिया गया .... और कुछ देर बाद डॉक्टर्स भी निकल आए ....

राज - डॉक्टर साहब कैसा है मेरा बेटा ....

डॉक्टर - हमने उसके बॉडी मे ब्लड तो ट्रान्स्फर कर दिया है .... पर चोट सर मे लगी है इसलिए जब तक पेशेंट को होश नही आ जाता तब तक उसकी हालत के बारे में कॉन्फिडेंट्ली कुछ नही कह सकता .... अब तो रात हो चुकी आप लोग घर जा सकते हैं वैसे भी यहा नर्सस और हम हैं देख भाल के लिए ....

डॉक्टर फिर वहाँ से चला जाता है ....

रजनी ने सभी को समझा बुझा कर घर भिजवा दिया पर दिया नही मानती है और हॉस्पिटल मे ही रुकने की ज़िद करती है .... और फिर बाकी लोग घर चले जाते हौं सिवाए दिया और रजनी के ..... नैना को भी तनु अपने घर लिए जाती है ....

रवि को अब आइसीयू मे शिफ्ट कर दिया गया था .... और दिया & रजनी भी वही रूम के बाहर बेंच पर बैठे हुए थे ....

रजनी और दिया भी दोपहर से भूकी थी इसलिए रजनी कुछ खाने पीने की चीज़े ले आती हैं .... और फिर ज़िद करके दिया को भी खिलाती है और खुद भी खाती है .....

खुशी को घर ले जाने के बाद उसके रूम मे भेज दिया जाता है और झांवी और मोहिनी किचन मे डिन्नर बनाने मे जुट जाते हैं .....

कुछ देर मे राज एक ट्रे में दो ग्लास जूस लेकर पहुँचता है ....

खुशी - पापा ये सब क्या है अपने तो मुझे हॉस्पिटल में ही ज़बरदस्ती जूस और फ्रूट तो खिलाया ही था अब मुझे इनकी कोई ज़रूरत नही ....

राज - बेटा आज तुमने हमारे लिए जो किया उसके बदले तो ये कुछ भी नही ....

खुशी - पापा आप ऐसा क्यूँ कह रहे हैं क्या भाई मेरा कुछ भी नही ....

राज- बेटा ऐसा मैने कब कहा .... अच्छा तुम जल्दी से मेरे सामने ये जूस का ग्लास खाली करो ....

खुशी जल्दी जल्दी जूस का ग्लास फिनिश करती है और फिर राज वहाँ से चला जाता है ......

इधर हॉस्पिटल मे दिया और रजनी अपना डिन्नर फिनिश करके बैठी हुई थी ठीक तभी एक नर्स उनके पास आती है ....

नर्स - मेडम आपके पेशेंट को होश आ गया है और आप उनसे मिल सकती हैं ....

रजनी दिया को वही छोड़ खुद उस नर्स के साथ चलती हुई चिराग के वॉर्ड मे पहुँचती हैं ..... रजनी को देख चिराग उठने की कॉसिश करता है पर रजनी उसको इशारे से मना करती है ....

रजनी - तुम रवि के दोस्त हो ना और क्या तुमने ही पोलीस स्टेशन कॉल किया था ....

चिराग - जी हां मेडम ....

रजनी - देखो तुम रवि के फ्रेंड हो .... तुम मुझे उसकी तरह ही दीदी कह सकते हो ....

चिराग - थॅंक्स दीदी ...

रजनी - तुमसे कोई मिलने नही आया .... कौन कौन है तुम्हारी फॅमिली मे ....

चिराग - मेरी माँ की डेत आज से 10 साल पहले ही हो गयी थी तो पापा ने दूसरी शादी कर ली .... मेरी सौतेली माँ मुझे लाइक नही करती है .... अब पापा को भी मुझसे कोई खास मतलब नही रहा .... अब उन सब के लिए मेरा होना ना होना एक समान है .... अच्छा दीदी रवि कैसा है अब ....

रजनी ने रवि के हालत के बारे में चिराग को बताया .... कुछ ही देर मे एक नर्स एक प्लेट मे खाना लेकर आती है और चिराग को खाना खिलाती है और कुछ देर बाद रजनी वहाँ से चली जाती है ....

ज़्यादा रात होने रजनी तो वही बेंच पर बैठी बैठी सो जाती है .... दिया को भी सफ़र की थकान की वजह से थोड़ी थोड़ी नींद आने लगी थी जिसके वजह से वो भी रुक रुक कर झपकीया लिए जा रही थी ....

उधर सुबेह 4 बजे के करीब आइसीयू मे सोए हुए रवि की बॉडी मे थोड़ी हरकत हुई जिसे देख नर्स जल्दी से भाग कर रजनी और दिया को उठा कर उन्हे अंदर लिवा लाती है .... जैसे ही रजनी और दिया अंदर आती है तो फिर से रवि की बॉडी मे एक झटका सा लगता है और फिर रवि ज़ोर से द्ददडिईईईईईईईईईयययद्द्द्ददडिईईईईईईईईईईईईईईईई बोलता हुआ अपनी आँखें खोल देता है ....

रजनी और दिया पास खड़े ये सब देख रहे थे ....

अपने लिए भाई की करूँ पुकार सुन रजनी की आँखें भर आती हैं और बिल्कुल रवि के सर के पास आ जाती है ... रवि के सर पर बॅंडेज लगा हुआ था ..... रजनी और दिया दोनो के आँखो मे आँसू छलक आए थे .... रजनी आगे बढ़ कर रवि के दोनो गालो को चूम लेती है .....

रजनी को देख रवि की आँखो से भी पानी निकलने लगता है ....

रजनी - कैसा है मेरा बच्चा ....

रवि - अभी बहुत अच्छा लग रहा आप जो मेरे पास हो .... दीदी मुझे छोड़ कर कभी नही जाओगी ना ...

रजनी - उउउन्न्नहुउऊुउउ कभी नही ....

दिया - अरे यार मैं भी यहाँ हूँ ....

रवि - नमस्ते मामी जी .... आप कब आई ....

दिया - बस अभी थोड़ी देर पहले .... चल तू आराम कर हम कुछ देर बाद तुझसे मिलते हैं ....

रजनी और दिया आइसीयू से बाहर निकल आते हैं उनके चेहरे पर खुशी छलक रही थी .... रजनी जल्दी से घर कॉल कर मोहिनी को रवि के होश मे आने की बात बताती है जिस तरह से चहक कर रजनी अपनी माँ को सारी बातें बता रही थी उससे मोहिनी को दोतरफ़ा खुशी हो रही थी .... मोहिनी भी जल्दी ही सभी घरवालो को उठा उठा कर खुश खबरी सुनाती है ....

यही नही वो जल्दी से किचन मे जाकर रवि के पसंद की सारी डिशस बनाने लगती है .....

अगली मॉर्निंग को सभी लोग स्कॉर्पियो मे बैठ कर हॉस्पिटल के लिए निकल जाते हैं ....तब तक डॉक्टर ने रवि के कुछ टेस्ट वग़ैरह कर लिए थे ..... राज के पहुँचते ही डॉक्टर ने उन्हे अपने कॅबिन मे बुलाया .... बाकी लोग बारी बारी से रवि से मिलने जाने लगे .... तनु भी अपने पेरेंट्स के साथ हॉस्पिटल आ चुकी थी ....

राज - डॉक्टर साहब अब मेरा बेटा कैसा है ....

डॉक्टर - मिस्टर. साक्शेणा आपका बेटा अब बिल्कुल अच्छी कंडीशन मे है .... उसके बॉडी के सारे जख्म तो आश्चर्यजनक तरीके से बिल्कुल भर गये हैं बिना कोई दाग छोड़े .... खैर ये तो बहुत अच्छी बात है ....

राज - तो डॉक्टर दूसरी बात क्या है .....

डॉक्टर - पेशेंट के सर के जख्म तो पूरी तरह से भर गये हैं पर वो अब पहले के मुक़ाबले कही ज़्यादा सेन्सिटिव हो गया है .... वो कभी कभी बिल्कुल जिद्दी भी हो सकता है .... उस कंडीशन मे जितना हो सके सिचुयेशन को प्यार से हॅंडल करने की कॉसिश करे .... दट'स ऑल मिस्टर. साक्शेणा दो दिनो तक तो मैं पेशेंट को रिलीस नही कर सकता हां 2 दिन बाद आप लोग उन्हे ले जा सकते हैं ....

दीपक - थॅंक्स डॉक्टर हम लोग आपकी कही हुई बातो का ख्याल रखेंगे ....

और फिर दोनो जीजा साले वहाँ से निकल कर रवि से मिल आते हैं .... रवि को सही कंडीशन मे देख सभी के चेहरो पर खुशी थी .... राज और दीपक ने सभी घरवालो को वो सारी बातें बतलाई जो डॉक्टर ने उन्हे कॅबिन मे कही थी ....
Reply
06-19-2020, 01:29 PM,
#29
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की

अपडेट 26

वो कभी कभी बिल्कुल जिद्दी भी हो सकता है .... उस कंडीशन मे जितना हो सके सिचुयेशन को प्यार से हॅंडल करने की कॉसिश करे .... दट'स ऑल मिस्टर. साक्शेणा दो दिनो तक तो मैं पेशेंट को रिलीस नही कर सकता हाँ 2 दिन बाद आप लोग उन्हे ले जा सकते हैं ....

दीपक - थॅंक्स डॉक्टर हम लोग आपकी कही हुई बातो का ख्याल रखेंगे ....

और फिर दोनो जीजा साले वहाँ से निकल कर रवि से मिल आते हैं .... रवि को सही कंडीशन मे देख सभी के चेहरो पर खुशी थी .... राज और दीपक ने सभी घरवालो को वो सारी बातें बतलाई जो डॉक्टर ने उन्हे कॅबिन मे कही थी ....

अब आगे

ऐसे ही 2 दिनो तक रवि और चिराग को हॉस्पिटल मे ही रखा गया .... उसके बाद रवि को तो डिसचार्ज करवाने की पर्मिशन मिल गयी जबकि चिराग की बॉडी पर अब भी प्लास्टर चढ़ा हुआ था जिसके वजह से उसको रिलीस नही किया गया था .... रजनी ने कुछ पोलीस वालो को चिराग के घर भिजवा कर चिराग के कंडीशन के बारे मे जानकारी दे दी ....

रवि जब फॅमिली के साथ घर पहुँचा तो उसका अच्छे तरीके से स्वागत किया गया .... उसके रूम को भी सलीके से सजाया गया था जिसे देख रवि को काफ़ी खुशी हुई ....

रवि को उसकी माँ और मामी बेड पर बिठा देती है .... कुछ ही देर मे तनु,खुशी और रजनी एक एक प्लेट में अलग अलग तरह की मिठाइया ले आती हैं जो कि रवि की फेवोवरिट स्वीट्स मे से थी .... तीनो एक ही बार मे अपने हाथो मे स्वीट्स लेकर रवि के मूह की तरफ बढ़ाती है ....

तनु - भाई सबसे ज़्यादा मुझसे प्यार करता है इसलिए वो पहले मेरे हाथो से मिठाई खाएगा ....

रजनी - वो मेरा भाई है इसलिए पहले मेरे हाथो से मिठाई खाएगा ....

खुशी मूह से तो कुछ नही बोलती है पर उसकी आँखें चीख चीख कर उसके दिल का हाल बया कर रही थी ....

रवि - अरे बाबा मैं तो आप सभी से एक समान प्यार करता हूँ इसलिए आप लोग मिठाई का छोटा छोटा टुकड़ा करके मुझे खिलाइए ....

अब तीनो बिल्कुल वैसा ही करती है .... और फिर सभी लोग अपना मूह मीठा करते हैं ....

रजनी फिर कुछ देर बाद रेडी होकर पोलीस स्टेशन के लिए निकल जाती है .... रजनी आज 3 दिनो के बाद पोलीस स्टेशन गयी थी .... रजनी के पोलीस स्टेशन मे उसके अंडर दो एएसआइ थे और पोलीस की एक छोटी सी टुकड़ी थी .... रजनी एक रौबदार पोलीस ऑफीसर के साथ एक बेहद खूबसूरत लड़की भी .... पोलीस की टाइट यूनिफॉर्म में वो बिल्कुल कातिलाना लगती थी ..... क्या बूढ़े क्या जवान सभी की आँखो का तारा थी वो ..... उसकी एक झलक पाने के लिए भी सभी तरसते थे पर वो बस उनके लिए ख्वाब ही था क्यूंकी उसको सामने से देखने की हिम्मत ना थी किसी मे ....

एएसआइ सिंग - गुड मॉर्निंग मेडम ....

रजनी - गुड मॉर्निंग सिंग जी मुझे टेरर भाई नाम के एक क्रिमिनल की सारी फाइल्स चाहिए .... और मुझे उसके सारे डीटेल्स की इन्फर्मेशन चाहिए ....

एएसआइ सिंग - ओके मेडम ....

और फिर पूरा दिन रजनी सभी फाइल्स को ही देखने में ही निकाल देती है .... टेरर के बारे मे सोच कर ही उसका खून खौल उठता था .... जब उससे और बर्दास्त करना मुश्किल हो गया तो वो लॉक अप खोल कर पूछ ताछ के बहाने टेरर के आदमियो कुटाई करके आ गयी ....

पोलीस स्टेशन के बाकी एंप्लायीस रजनी का ये रूप देख ख़ौफजदा हो गये ....

रात होते ही रजनी अपने घर की तरफ निकल गयी ...... घर आने से पहले उसने हॉस्पिटल का एक राउंड मार लिया और चिराग का भी हाल चाल जान लिया ....

घर पहुँचने तक रजनी थक कर चूर हो गयी थी ..... वो जल्दी से अपने रूम पहुँची और अपना गेट लॉक करके वॉशरूम घुस कर खुद को अनड्रेस करके शवर लेकर दूसरा ड्रेस पहनती है और रवि के रूम की तरफ चल देती है .... उस वक्त रवि रूम पर अकेला ही था और सोया हुआ था ....

रजनी जाकर रवि के माथे को चूम लेती है .... रजनी के तपते होंठो के टच से रवि की नींद खुल जाती है ....

रवि - दीदी आप कब आई थाने से ....

रजनी - अभी जस्ट आई हूँ .... कैसा है तू ....

रवि - मैं तो ठीक हूँ ....

तभी दिया उन्हे डिन्नर के लिए बुलाने आ जाती है ....

कुछ ही देर मे सभी साथ मे डिन्नर करते हैं और फिर कुछ देर आपस मे बातें करके सोने चले जाते हैं .... अभी रवि की मेडिसिन्स में नींद की दवा भी इंक्लूडेड थी जिसके वजह से उसको जल्द ही नींद आ जाती है ....

उधर रजनी रात भर प्लॅनिंग करती रहती है की टेरर नाम के बंदे को कैसे दबोचना है .....

अगली सुबेह को रवि के मामा अपने घर को निकल जाते हैं जबकि मामी दिया वही रुक जाती है ....

मोहिनी ब्रेकफास्ट के लिए रवि को उठाने उसके रूम में आती है ..... रवि तो गहरी नींद मे सोया हुआ था पर उसका उस्ताद पूरी तरह जगा हुआ था और ट्राउज़र मे एक बड़ा सा टेंट बना हुआ था .... मोहिनी की नज़र जब उधर जाती है तो उसकी आँखें हैरत के मारे फटी की फटी रह जाती है .....

खैर कुछ देर बाद ही मोहिनी के अंदर ग्लानि के भाव आ गये क्यूंकी जिसे वो अभी देख रही थी वो उसका सगा बेटा था ....

मोहिनी ने रवि को कमर तक चादर से ढक दिया और उसको बड़े प्यार से जगाया .....

मोहिनी - बेटा उठ जाओ मॉर्निंग हो गयी ...

कुछ देर कुन्मूनाने के बाद रवि की नींद खुल जाती है ..... मोहिनी फिर उसके रूम से चली जाती है .... रवि को उठने के बाद जब अपनी हालत का अंदाज़ा होता है तो वो बुरी तरह घबरा जाता है और जल्दी से वॉशरूम की तरफ भागता है और कमोड पर बैठ कर सोचने लगता है .....

रवि (मन में) - क्या पता माँ ने मुझे उस हालत मे देख लिया क्या .... नही नही उन्होने नही देखा होगा क्यूंकी चादर तो मेरे कमर तक था .... वैसे आज ये बदमस कुछ ज़्यादा ही उभरा हुआ है ....

रवि शवर लेकर नीचे आ जाता है जहाँ रजनी और राज के अलावा सभी घर वाले मौजूद थे .... सभी साथ मे ब्रेकफास्ट निपटाने लगे ....

उधर रजनी अपने पोलीस फोर्स के साथ टेरर भाई के अड्डे की तरफ तेज़ी से बढ़ती जा रही थी .... उसकी आँखें उसके दिल का हाल बया ना कर दे इसलिए उसने आँखो पर काला चस्मा लगाया हुआ था ....

Reply

06-19-2020, 01:29 PM,
#30
RE: Incest Porn Kahani एक फॅमिली की
अपडेट 27

रवि (मन में) - क्या पता माँ ने मुझे उस हालत मे देख लिया क्या .... नही नही उन्होने नही देखा होगा क्यूंकी चादर तो मेरे कमर तक था .... वैसे आज ये बदमाश कुछ ज़्यादा ही उभरा हुआ है ....

रवि शवर लेकर नीचे आ जाता है जहा रजनी और राज के अलावा सभी घर वाले मौजूद थे .... सभी साथ मे ब्रेकफास्ट निपटाने लगे ....

उधर रजनी अपने पोलीस फोर्स के साथ टेरर भाई के अड्डे की तरफ तेज़ी से बढ़ती जा रही थी .... उसकी आँखें उसके दिल का हाल बया ना कर दे इसलिए उसने आँखो पर काला चस्मा लगाया हुआ था ....

अब आगे

टेरर आने वाले तूफान से अंजान अपने अड्डे पर अपने नकली दांतो के साथ ब्रेकफास्ट का लुत्फ़ उठा रहा था .... उसके कुछ चम्चे दरवाज़े पर पहरेदारी कर रहे थे ....

टेरर के अड्डे पर पहले गैर क़ानूनी सामानो का जखीरा मौजूद रहता था .... यही नही टेरर उस एरिया का बहुत बड़ा ड्रग स्मग्लर भी हुआ करता था .... उसके सारे गैर क़ानूनी काम अंडरग्राउंड होते थे .... पोलीस वालो की भी मिली भगत की वजह से उसके ग़ैरक़ानूनी कामो पर परदा गिरा हुआ रहता था ....

जब से वो जैल गया था उसके सारे गैर क़ानूनी काम बंद पड़े थे .... पर उसके लौटने के बाद से उसने रजनी की खूबसूरती और ऑनेस्टी के बहुत चर्चे सुने थे और उसके भाई की पिटाई भी रवि ने की थी इसके लिए ही वो पहले रवि का हिसाब किताब चुकता करना चाहता था और बाद मे रजनी से निपटना चाहता था ....

अभी रजनी की पल्टन टेरर के अड्डे से कुछ दूर ही थी कि टेरर के पास एक कॉल आती है जिसे रिसीव करके टेरर की आँखें हैरत से फैल जाती है .... कॉल डिसकनेक्ट करने के बाद वो अपने सभी आदमियो को बुला कर कुछ इन्स्ट्रक्षन देता है और फिर क्या था उसके सभी आदमियो मे हड़कंप मच जाती है .....

टेरर - आने दो उस साली ईमानदारी की दुम को उसको ऐसी सज़ा दूँगा की उसकी 7 पुस्त तक इस टेरर का नाम सुनते ही टेरर मे आ जायें ....

जग्गा - मालिक उसको कमजोर ना समझें ....

टेरर - बिल्कुल नही जग्गा .... उसके भाई को कमजोर समझने की ग़लती का परिणाम मेरे 8 दाँत और मेरे 12 - 15 आदमी भुगत चुके हैं .... इस पोलीस वाली से मैं सब का बदला लूँगा ....

जग्गा - पर मालिक आपको अभी किसका कॉल आया था ....

टेरर - था कोई अपना ही पालतू कुत्ता एक पोलीस वाला ....

तभी टेरर के कानो मे पोलीस की गाड़ी के साइरन सुनाई देती है .....

कुछ देर बाद एक लाउडस्पिकर पर अनाउन्स्मेंट होता है .....

"कालिया उर्फ टेरर भाई पोलीस ने तुम्हारे अड्डे को चारो तरफ से घेर लिया है ..... अगर खुद की और अपने आदमियो की सलामती चाहते हो तो खुद को हमारे हवाले कर दो .... अगर तुमलोगो ने हमारे साथ कोवापरेट नही किया तो मजबूरन हमे सख़्त कदम उठाना होगा जिसके ज़िम्मेवार तुम खुद ही होवोगे ...."

अभी उस पोलीस वाले ने इतना बोला ही था कि एक गोली हवा मे उड़ती हुई आती है और बोलने वाले के सर में जा घुसती है वही उसके प्राण पखेरू उड़ जाते हैं ....

पोलीस की टोली में भी हड़कंप आ जाती है और फिर क्या था दोनो तरफ से फाइरिंग सुरू हो जाती है .... धड़ा धर फाइरिंग चल रही थी रजनी भी अपने अचूक निसानो से टेरर के काफ़ी गुन्डो को मौत की नींद सुला चुकी थी ....

टेरर ने खिड़की से छुप कर बाहर देखा जब उसकी नज़र रजनी पर पड़ी तो अपने आप उसके मन मे एक आवाज़ गूँजी .... "लड़की हो तो ऐसी"

जब काफ़ी मात्रा मे टेरर के गुंडे मारे जा चुके थे तब रजनी अपनी पल्टन के साथ टेरर के अड्डे के अंदर कदम रखती है ..... अब टेरर के गिने चुने गुंडे ही बचे थे ....

रजनी धीरे धीरे फुक फुक कर कदम रखती हुई आगे बढ़ जाती है और बाकी पोलीस वाले बाहर ही रह जाते हैं ..... रजनी को अकेला देख टेरर उससे थोड़ा दूर जान बुझ कर फाइरिंग करता है जिससे रजनी चौकन्नि हो जाती है ... और दीवार की ओट में हो जाती है ....

टेरर - तुम इनस्पेक्टर रजनी हो ना तुम्हारी खूबसूरती के काफ़ी चर्चे सुने हैं और आज देख भी लिया .... काफ़ी डेरिंग भी हो आइ लाइक इट ....

रजनी - तुम हो एक बार सामने तो आ जाओ ....

टेरर - मैं वो हूँ जिसे लोग प्यार से टेरर भाई कहते हैं .... एक बार तुम मुझे प्यार से बोलो मैं तो तुम्हारे लिए हँसते हुए जान भी दे दूं ....

रजनी - हाँ सुना है तुम्हारे क़िस्से मेरे भाई ने एक पंच मे ही तुम्हारे 8 दाँत तोड़ दिए थे .....

टेरर - तुम मुझे गुस्सा दिला रही हो .... वो तो मैं वहाँ से हॉस्पिटल चला गया था वरना आज तुम्हारे घर मे मातम मनाई जा रही होती ....

गुस्से की वजह से टेरर का ध्यान भटका और रजनी ने अपने अचूक निशाने का सबूत देते हुए टेरर के माथे के बीच मे गोली दाग दी और उसके साथ ही टेरर भाई की जीवन लीला समाप्त हो गयइ .....

रजनी - मेरे भाई को मारेगा तू .... चल अब जहन्नुम की आग मे जलता रह ....

और इसके साथ ही रजनी का मिशन कंप्लीट हो चुका था .... इस मिशन मे रजनी के 5 पोलीस वाले शाहिद हुए थे ......

ईव्निंग को रजनी आज जल्दी ही घर आ जाती है और उसके चेहरे पर आज अपार खुशी थी .... अभी साक्शेणा निवास मे झांवी की पूरी फॅमिली के साथ आरती भी आई हुई थी जिन्हे देख रजनी को डबल खुशी हुई ....

रजनी अंदर आ कर सबसे मिलती है .... आरती तो पहले रजनी के घर एक दो बार आ चुकी थी पर गरिमा का ये फर्स्ट टाइम था .... दरअसल ये सभी लोग रवि से मिलने आए थे ...

रजनी अपनी दोनो सहेलियो को अपने रूम ले जाती है और अंदर से गेट लॉक करके उन्हे अपने बेड पर बैठने को कहती है ..... आरती रजनी के करीब आ कर वर्दी के उपर से ही उसके चुचो को मसल देती है ....

रजनी - उफफफफफफफ्फ़ ऊहह आरती तुम क़ानून को हाथ मे ले रही हो ....

आरती - यार मैं क़ानून को कहाँ क़ानून वाली के चुचियो को हाथ मे ले रही हूँ .... यार तू इस यूनिफॉर्म मे इतनी हॉट लग रही थी कि कंट्रोल ना हुआ ....

रजनी - अच्छा जा बेड पर बैठ मैं चेंज करके आती हूँ ....

कुछ ही देर मे रजनी ड्रेस चेंज करके आ गयी .....

रजनी - यार तुम लोगो को लग रहा होगा कि क्यूँ मैने अपने सगे भाई को तुम लोगो के सामने दूर का रिलेटिव बना कर इंट्रोड्यूस किया ....

आरती - सच कहूँ तो मुझे पहले से ही तुम दोनो पर शक था .... खास करके रवि का तुम्हारे लिए केर देख करके .... पर तूने ऐसा क्यूँ किया इसका जवाब तो सिर्फ़ तुम्हारे पास है ...

रजनी - यार कब से और क्यूँ अपने भाई से इतना नफ़रत करने लगी मुझे भी पता ना चला ... मैं टूर पर नही चाहती थी कि तुम लोगो को पता चले कि वो मेरा सगा भाई है ....

गरिमा - यार क्यूँ तू उसके साथ ऐसा बिहेव करती है .... यार लुक अट हिम हाउ स्वीट & इनोसेंट ही ईज़ ....

आरती - ओये कंट्रोल यार भूल मत कि तू एंगेज्ड है .... अब सचिन को क्या फटी हुई चूत देगी ....

रजनी - कमिनि अपनी ज़ुबान पर कुछ तो कंट्रोल कर ये मेरा घर है और तुम लोग मेरे सामने ही मेरे सगे भाई के बारे में गंदा गंदा बोल रही हो ....

आरती - सॉरी यार ...

कुछ देर गॅप शॅप करने के बाद तीनो नीचे आती हैं .... रवि बैठ कर टीवी देख रहा था और उसके साथ ही झांवी और खुशी भी बैठी हुई थी जबकि मिसेज़ मेहता मोहिनी और दिया के साथ गप्पे लड़ा रही थी .... कुछ देर साथ मे टाइम स्पेंट करने क बाद बाकी लोग चले जाते हैं ....

रात मे सभी घरवाले साथ बैठ कर डिन्नर कर रहे थे ....

रजनी - पापा आज मैं बहुत खुश हूँ .....

राज - क्यूँ बेटा तुम्हारी प्रमोशन हो गई क्या ....

रजनी - नही पापा .... जिन लोगो ने भाई की ये दुर्गति की थी ना उनके बॉस का आज मैने पोलीस एनकाउंटर करवा दिया ...

राज - दट'स गुड न्यूज़ बट तुम्हे अट लीस्ट ये सब करने से पहले हमे एक बार बताना तो चाहिए था .... बाइ दा वे आइ आम ग्लॅड आंड आइ आम प्राउड ऑफ यू ...

उसके बाद सभी डिन्नर करके अपने अपने कमरो मे सोने चले जाते हैं ....

अगले दिन रजनी ब्रेकफास्ट करके रवि के साथ हॉस्पिटल पहुँचती है जहाँ आज चिराग का प्लास्टर कट होना था ....

चिराग के रूम मे दोनो भाई बहन साथ बैठे थे ....

चिराग - भाई कैसा है तू ....

रवि - मैं तो ठीक हूँ यार ... लगता है तेरा तो पूरा स्ट्रक्चर ही बिगाड़ दिया कमिनो ने ...

चिराग - अब सिंगल लीवर का हूँ उन बॉडयबुलड़र्स के सामने कहाँ से टिकता ....

रवि - कोई ना तूने भी काफ़ी बहादुरी दिखाई ...

रजनी - शायद तुम लोग भूल रहे हो कि मैं भी यहाँ मौजूद हूँ ....

चिराग - आपको कैसे भूल सकता हूँ दीदी आपने तो मुझे मेरा परिवार लौटा दिया .... अब तो मेरी स्टेप मदर भी मेरा हाल चाल पूछती हैं ....

रजनी - अरे कुछ कहाँ किया बस उन्हे मा बाप होने का फ़र्ज़ समझा दिया ....

चिराग - दीदी थॅंक्स ....

चिराग अभी कुछ कहने ही वाला था कि नर्स अंदर आती है रवि और रजनी को रूम से बाहर जाने को कहती है .... कुछ देर बाद डॉक्टर आकर चिराग का प्लास्टर कट करता है उसके बाद वॉर्ड बॉय चिराग को कपड़ा पहनता है और फिर कुछ देर की फॉरमॅलिटी के बाद चिराग को डिसचार्ज कर दिया जाता है ....

चिराग अपने पेरेंट्स के साथ अपने घर चला जाता है ..... रजनी अपनी जीप से पोलीस स्टेशन चली जाती है रवि अपने घर को लौट आता है ....
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Thriller Sex Kahani - आख़िरी सबूत desiaks 74 12,645 07-09-2020, 10:44 AM
Last Post: desiaks
Star अन्तर्वासना - मोल की एक औरत desiaks 66 50,661 07-03-2020, 01:28 PM
Last Post: desiaks
  चूतो का समुंदर sexstories 663 2,319,873 07-01-2020, 11:59 PM
Last Post: Romanreign1
Star Maa Sex Kahani मॉम की परीक्षा में पास desiaks 131 122,140 06-29-2020, 05:17 PM
Last Post: desiaks
Star Hindi Porn Story खेल खेल में गंदी बात desiaks 34 51,562 06-28-2020, 02:20 PM
Last Post: desiaks
Star Free Sex kahani आशा...(एक ड्रीमलेडी ) desiaks 24 27,982 06-28-2020, 02:02 PM
Last Post: desiaks
Star Incest Porn Kahani चुदाई घर बार की hotaks 49 217,831 06-28-2020, 01:18 AM
Last Post: Romanreign1
Exclamation Maa Chudai Kahani आखिर मा चुद ही गई sexstories 39 322,241 06-27-2020, 12:19 AM
Last Post: Romanreign1
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) sexstories 662 2,416,693 06-27-2020, 12:13 AM
Last Post: Romanreign1
  Hindi Kamuk Kahani एक खून और desiaks 60 26,485 06-25-2020, 02:04 PM
Last Post: desiaks



Users browsing this thread: 10 Guest(s)