Indian Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल (माँ-बेटा:-एक सच्ची घटना)
06-24-2022, 12:01 AM,
RE: Indian Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल (माँ-बेटा:-एक सच्ची घटना)
इसलिए मैंने माँ को मेरी और से हा कहा पर यह भी कहा हितेश से कोई जबरदस्ती नही करेगा वह अगर ना करना चाहे तो हम वह भी सहर्ष स्वीकार करेंगे पर हम यही गलत थे हितेश तो न जाने कब से मुझे प्यार करते थे एक माँ की तरह नही वह तो मन ही मन मुझे चाहते थे मुझे यह जानकर बहुत खुशी हुई और शर्म भी आई कि अब मैं हितेश का सामना कैसे करूंगी अब हमारे बीच रिश्ता बदल चुका था अब वह मेरे सपनों का राजकुमार था कितने खूबसूरत थे बिल्कुल अपने पिता की तरह अब मैने दिल और दिमाग से उन्हें स्वीकार किया था उनका स्पर्श उनके बाहो में समाना बहुत रूमानी होता था कितना प्यार करते है मुझसे सोचकर ही खुद पर नाज होता है शादी के वह दिन किसी ख्वाब की तरह थे फिर हमारी सुहागरात में उनकी हालत पर दूसरे दिन उनका लाजवाब प्यार करना वह आज भी उसी तरह प्यार करते है फिर हमारा हनीमून मैने कितना मना किया था हनिमून के लिए पर वह नही माने और हम हनीमून के लिऐ माउंटआबू गये वहा के वह बिस दिन आज भी हमारे जीवन के सबसे अच्छे दिन है वहा उन्होंने मेरी कैसी हालत कर दी थी पांच दिन तो रूम से बाहर ही नही निकले सिर्फ प्यार करते रहे हम अपने मे ही गुम रहे फिर वहा की हसीन वादियोमे खो गये वहां हम ना पति पत्नी ना माँ बेटा थे सिर्फ प्रेमी प्रेमिका थे हमे हमारे सिवा कुछ होश नही था मेरे लीये तो यह एक ख़्वाबसा है और मैं इस ख्वाब से बाहर नही आना चाहती आज हमारी शादी को आठ साल हो गये है पर आज भी वही जोश वही प्यार है कितना प्यार करते है मुझे बिल्कुल एक प्रेमी की तरह मैं बहुत खुश हूं आज हमे एक बेटी है दीया हमारे घर मे हम तीन लोग ही है मैंने मम्मी पापा को कितना कहा कि हमारे साथ रहो पर व नही मानते और अहमदाबाद छोड़कर मुम्बई में रहते है पर अबभी हर महीने मिलने आते है और कभी हम मिलने जाते है मैं अपनी जिंदगी से अब बहुत खुश हूं जिसने मुझे दूसरा मौका दीया इतना प्यार करनेवाला पति दीया प्यारी बेटी दी मुझे और कुछ नही चाहिए
दोस्तो
मैंने इस कहानी में अन्य लेखकों की तरह एक भी अपशब्द नहीं लिखा और यकीन मानिए उस रूपसी से संभोग के दौरान भी नहीं कहा क्योंकि मैं उसे प्रेम करता था, वह मुझसे प्रेम करती थी. मैं उसकी और उसके प्रेम दोनों की पूजा करता था. मेरे लिए उसका प्रेम आज भी पवित्र और निर्मल है इसलिए उसके और उसके प्रेम के लिए अपशब्द या यूं कहें गंदे शब्द उपयोग करना उस देवी के प्रेम की तौहीन होगी.

यदि आपको उन अश्लील शब्दों के बिना इस सच्ची कहानी में मजा ना आया हो तो मैं आपसे क्षमा प्रार्थी हूं क्योंकि मैं आपके झूठे आनन्द के लिए उस देवी के प्रेम को अश्लील शब्दों से गंदा नहीं कर सकता.
वह मुझ पर लुटी थी मैं उस पर लुटा था यही इस कहानी का सार था!
दोस्तो, एक औरत भगवान से ज्यादा भरोसा करके अपने आपको किसी मर्द को सौंपती है. या यूं कहें कि अपना सर्वस्व लुटाने को समर्पण करती है. उस समर्पित लड़की या महिला के लिए या कामक्रीड़ा के दौरान उसको कहे जाने वाले रंडी, कुतिया, छिनाल, रांड जैसे शब्द प्रयोग करके आप उस उस महिला का शरीर तो पा सकते हैं लेकिन आत्मा या पूर्ण समर्पण नहीं. यदि वो आपके भरोसे की कद्र करती है तो आप भी उसके समर्पण की कद्र करें.

मैं तेरी फाड़ दूंगा, चोद दूँगा, चोद चोद कर भोसड़ा बना दूँगा जैसे शब्दों से आप केवल झूठी मर्दानगी का अहसास करते हैं क्योंकि चमड़ी से चमड़ी कभी नहीं कटती या फटती है, मानव लिंग मूत्र व सम्भोग तो अवश्य करता है परंतु चीर फाड़ नहीं.

और ये आप बार बार मनगढ़ंत कहानियों में लिखते हैं कि आपका लिंग अंदर जाते ही वो रोने लगी, चिल्लाने लगी उसके आँसू आ गए तो समझिए या तो वो जबरदस्ती है या झूठ है. औरत केवल जबरदस्ती में रोती है, रजामंदी में तो प्रेम के हिलौरें खाती है.

कुछ लोग लिखते हैं कि वो मेरा लन्ड देखते ही चुदने को तैयार हो गयी… भाइयो, यूँ देख कर कोई औरत तैयार होती हो तो सबसे ज्यादा मौज सड़क पर मूतने वाले की हो जाती.
कुछ लिखते हैं मेरे कमरे में आते ही उसने साड़ी उठा दी या सलवार खोल दी या यूं बोली- चोद ले मेरे राजा!
तो आपकी गलतफहमी दूर कर दूँ कि मजबूरी में वेश्यावृत्ति करने वाली हिंदुस्तानी औरत भी कभी पहल नही करती.

और एक भ्रम जो कुछ लोग फैलाते हैं कि उसकी तो इतनी टाइट थी मेरा अंदर ही नहीं जा रहा था, दोस्तो, यह गलतफहमी निकाल दीजिये, एक बार योनि गीली होने के बाद आसानी से लिंग को अंदर ले लेती है.

एक और देखा देखी सभी गुदा यानि गांड मारने के शौकीन हुए जा रहे हैं और औरत का चित्रण भी ऐसे पेश करते हैं कि वो तो गांड मरवाने को तैयार ही बैठी रहती है.
गुदा मैथुन पूर्णतया अप्राकृतिक है व अपराध की श्रेणी में आता है. और ना ही किसी औरत को गुदा मैथुन से मजा आता है अपितु इससे उसे तकलीफ ज्यादा होती है, और फिर भी यदि आपको यकीन ना आये तो
गुदा यानि गांड तो आपके पास भी है एक बार प्रयोग करके देख लो खुद समझ आ जायेगा.

और यदि केवल गांड मारने से ही सम्भोग होता तो महिला की जरूरत ही क्या थी, ये तो पुरुषों में सम्भव था.

आप यदि अपनी महिला साथी से प्यार करते हैं तो क्यों उसे बाजारु बनाकर पेश करते हैं. औरत इस कुदरत की सबसे अनमोल और सुंदर कलाकृति है, उसे प्यार की जरूरत है. रही बात कुछ लोगों के झूठे मर्दानेपन और सुपरमैन बनने के झूठ की… तो मैं केवल ये कहना चाहूंगा कि यदि औरत अपनी वाली पे आ जाये तो एक औरत एक साथ कई मर्दों को संतुष्ट कर सकती है लेकिन एक मर्द एक औरत को भी सन्तुष्ट नही कर सकता.

मेरा आप सभी से निवेदन है कि अपनी महिला साथी को प्रेम दें इज़्ज़त दें और उसके विश्वास को कभी ना तोड़ें और ना ही उसे बाजारू बनाने की कोशिश करें.

दोस्तो यह कहानी यही ख़तम होती है आपको यह कहानी कैसे लगी जरूर बताना
Reply



Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 44 198,554 06-24-2022, 09:17 AM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 155 1,483,009 06-24-2022, 09:15 AM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार sexstories 153 2,160,568 06-18-2022, 09:38 AM
Last Post: Bharatp34
Heart Chuto ka Samundar - चूतो का समुंदर sexstories 671 5,114,712 05-14-2022, 08:54 AM
Last Post: Mohit shen
Star Antarvasna Sex Story - जादुई लकड़ी desiaks 61 140,463 05-10-2022, 03:48 AM
Last Post: Yuvraj
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 40 286,150 05-08-2022, 09:00 AM
Last Post: soumya
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 22 447,320 05-08-2022, 01:28 AM
Last Post: soumya
Star XXX Kahani मेरा सुहाना सफर-कुछ पुरानी यादें desiaks 339 409,550 04-30-2022, 01:10 AM
Last Post: soumya
Star XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता desiaks 54 216,485 04-11-2022, 02:23 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 248 2,158,679 04-05-2022, 01:17 PM
Last Post: Nil123



Users browsing this thread: 40 Guest(s)