Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा
07-20-2020, 01:19 PM,
#11
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा
“वो देखो बीबी जी आपका बंगला आ गया” सत्तू ने एक दम खुश होके पुरे दम से काव्या को बोला.

काव्य ने ख़ुशी से नज़र दौड़ाई तो उसको वही १८ साल पुराना किशोरीलाल अग्रवाल भवन दिख गया. वही जिसमे वो बचपन में लुका छुपी खेलती थी, दौड़ती थी, अपनी गुडिया संग खेलती थी, नाना के साथ सैर पे जाती थी, नानी से कहानिया सुनती थी. उसका ख़ुशी का कोई किनारा न रहा. वो ख़ुशी से फुले नहीं समां रही थी. उसके घर के गेट से ही अंदर की पौधों फुलोकी बगिया दिख रही थी. बचपन में वो उन पौधों को पानी डालती थी. आज वही बगिया अब बहुत खुबसूरत हो गयी बिलकुल काव्या की तरह. पर्यावरण का देखभाल करो तो वो भी तुम्हारा देखभाल करेगा ये विचार यहाँ पे हमें मिलता हैं. उस बगिया से आने वाली फूलो की महक बाहर तक आ रही थी. पूरा वातावरण जैसे महक गया था और साथ ही वो भव्य बंगला उसमे जैसे किसी राज महल जैसे प्रतीत हो रहा था. मानो वो अपनी राजकुमारी के स्वागत में सज धज के खड़ा हो.
जैसे तैसे देहाती ऑटो बंगले के गेट के पास रुक गया. काव्या ने अपने पैर ऑटो के बाहर रख दिए. अपने घर को इतने सालो के बाद देख वो बहुत ज्यादा खुश नज़र आ रही थी. फूलों की महक उसको और सकारात्मक हवा प्रदान कर रही थी. उसने वही बड़े ही आराम से खड़े-खड़े एक लम्बी आह भरी और भारी अंगडाई ली. जिससे उसके दोनों हाथ ऊपर हो गए और आखे बंद हो गयी. होठो पे सतुष्टि से भरी मुस्कान आ गयी.
“हम्म....आई लव माय होम..आव....”

जैसे ही उसको ऐसे खड़े मुद्रा में सबने देखा, सुलेमान झट से ऑटो से उतर गया. उसने बिना कोई देरी किये काव्या के नजदीक जाकर अपनी नाक उसके गोरी चिकनी खुली बघलों में घुसा दी. और एक लम्बी सांस भरी.

“स......आह.....”

अपनी बघलो में अचानक कुछ गुदगुदी महसूस हुए काव्या ने अपनी आखे खोली और एकदम से दोनों हाथ निचे करके थोडा पिच्छे हट गयी. सुलेमान अपने इतने करीब खड़ा देख के वो चौक गयी.

“ये क्या कर रह थे तुम?” उसने बड़े आश्चर्यता से और जोर से सुलेमान से कहा.

“जी...मैं बीबीजी..काव्या मैं तो बस फूलो की खुशबू ले रहा था....” ऐसा बोलके और उसने यहाँ वहा देखा जैसे वो उसको दिखा रहा हो, फूल उसको कितने पसंद हैं.

काव्या ने थोडा मूह टेढा किया. पर उसका ध्यान फिलहाल सुलेमान से हटकर अपनी पुराणी यादो पे था. सो उसने खुद ही उसकी बात को इग्नोर किया.
“अछ्छा,...ओके..”

“हा काव्या..मुझे तो फूलो को सूंघना पसंद हैं. मैं तो उसको चाटता भी हूँ कभी कभी..” अपने भद्दे होठो पे अपनी जुबान फिरते उसने काव्या की बघलो की तरफ देखके बड़े ही कामुक अंदाज़ में ये बोल दिया.

काव्या उसके हर बात को इगनोर करके बस अपने घर की और देख रही थी. तभी उसने कहा ,”अच्छा ये लो पैसे”
उसने अपनी पर्स से २००० की नोट निकाल के उसको दे दी. उसको देख के सत्तू बोला “अरे बीबीजी..हमारे पास इतना पैसा कहा होगा..इसका छूटटा नहीं हैं हमरे पास.”

“ऊप्स..मेरे पास तो यही सब नोट हैं. बाकि १०-२० के हैं थोड़े ”

बस सुलेमान को यही चांस मिल गया उसने झट से कहा,
“अरे काव्या तुम क्यों सोच रही हो इतना..पैसे रहने दो हम ले लेगे तुमसे बाद में. सलमा की इलाज के लिए आना ही हैं न तुमको तब दे देना..जो देना हैं वो”

“अरे हाँ...थैंक्स ..मैं भूल ही गयी थी”, काव्या ने एक मुस्कान के साथ जवाब दिया.

एक बार फिर से काव्या के बदन पर नज़र फिराते हुए सुलेमान के बड़े कामुक स्वर में धीरे से कहा,
“ऐसे भूल मत जाना बीबीजी..हमरे पैसे हैं आप के पास..सूद के साथ वापस लेंगे फिर तो..और हिसाब के पक्के हैं हम आप से तो ले कर रहेंगे“

और इस बात पे सब हसने लगे. काव्या भी उन सब के साथ ताल में ताल मिला कर हस गयी.

“ओके बाबा..ओके..मैं दूंगी तुमको पैसे”, हस्ते हुए अपनी बैग ले कर वो गेट के अंदर आ गयी.

“बाय..सी यू,....” सबको बाय बोलते हुए वो जब मूडी तब वो नज़ारा सच में देखने लायक था. जैसे कोई रानी अपने महल में जा रही हो. मटक मटक के उसका पिचवाडा घुमे जा रहा था. दोनों कलूटे आखरी मंजील तक उसके पिछवाड़े को निहारते रहे.
फिर एक बार काव्या ने घर के मैं दरवाजे के पास जाके वापस मुडके अपनी हाथो से सबको बाय बोला. यहाँ दोनों कलूटे भी जोर से बोल पड़े ”मिलना बिबीजी..हम आयेंगे वापस..” और काव्या ने दरवाजे की बेल बजायी और अपने घर के अन्दर प्रवेश किया.

जैसे ही वो अन्दर गयी यहाँ सुलेमान सत्तू से बोल पड़ा,

” मादरचोद..इस डोक्टोरनी ने आग लगा दी हैं मेरे लवडे में”

सत्तू बोला” बात तो ठीक हैं गुरु, मेरा भी हाल वैसा ही हैं जैसा तुम्हारा..”

“कुछ भी बोल माल हाथ से नहीं जाने देना हैं सत्तू...”

“वो बात तो सही हैं गुरु पर अपनी तो हालत अभी भी ख़राब हो गयी हैं,.इसको ठंडा करना होगा..”

“तो फिर सोच क्या रहा हैं गांडू..भगा ऑटो अपने झोपडी की तरफ”

और दोनों कलूटे हस कर ऑटो में बैठ गए. ऑटो चालू करके सत्तू ने उसको खेतो की और मोड़ा सलमा को समझ में देरी नहीं लगी के ने उसको वक़्त ने फिर से एक घंटा पिच्छे की और मोड़ दीया था.
जैसे ही काव्या ने डोर बेल बजाई नानी ने दरवाजा खोला. वो पहले अपनी नानी से मिली. उनके पैर छुए. और उनको गले लगा लिया. अपनी पोती को देख नानी बड़ी खुश हुयी. काव्या जब १० साल की थी तब वह आई थी. तब उसने खेल खेल के पूरा घर सर पे रख दिया था. नानी को वो दिन याद आये. लेकिन अब उसको क्या पता के २८ साल की काव्या अब जो खेल यहाँ खेलने वाली हैं शायद उससे पूरा समा, सर चढ़ना हैं. काव्या ने नानी को एक जोर से ज़प्पी दी.
“जुग जुग जियो बेटी. बड़ी लेट आई हो गाडी सब खैरियत से मिली न?”

“ओह नानी वो सब ठीक मिला. पता हैं यहाँ के लोग भी काफी अच्छे हैं, एक औटोवाला था उसने यहाँ तक लाके छोड़ा मुझे”

“हाँ बेटी वो तो हैं, इसीलिए मुझे गाँव से शहर आने का कभि मन नहीं करता. तेऋ मा हर बार बोलती हैं पर मैं नहीं सुनती उसकी कभी...हा हा ” और नानी हसने लगी.

“सच नानी. कितनी ताज़ी हवा हैं यहाँ. कितने अच्छे लोग हैं यहाँ. अब तो मैं फुल आराम करुँगी देखो”

“अरे क्यों नहीं बेटी जब तक रहो तब तक सिर्फ आराम करो कोई बात लगे तो बता देना. तेरे नाना की आत्मा को शान्ति मिलेगी आज कितने दिन के बाद पोती घर आई हैं”

दोनों हॉल में लगी हुयी किशोरीलाल के बड़े तस्वीर के सामने आ गए.
“सच नानी, नाना जी की बहुत याद आती हैं मुझे भी.”

“हा बेटी. पर सब उसके हाथ में हैं. हम क्या कर सकते हैं.”

और सब तरफ एक दम शांति छा गयी. तभी खिड़की से ठंडी हवा का झोका आया और नानाजी के तस्वीर से एक फूल निचे गिर गया.
“अरे बीटा लो. नाना भी खुश हुए देखो प्रकृति का सन्देश”

Reply

07-20-2020, 01:19 PM,
#12
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा

सच में भारत देश की महिमा भी काफी अलग हैं. यहाँ लोग एकदूसरे के साथ प्रकृति, जानवर और चीजो को भी जोड़ लेते हैं. कितना एक हैं हम सब फिर भी लड़ते रहते हैं. प्रकृति तो अच्छी हैं पर मानव बदल गया हैं.

वो फूल ओने हाथो से उठाकर के अपनी पोती की तरफ देख कर नानी ने कहा, “जाओ काव्या, तुम आराम करो. थक गयी होगी. फिर शाम नजमा आएगी तब खाना खा लेते हैं”

“ओह सच नानी .. नजमा फूफा अभी भी हैं यहाँ “

“हां बेटी वो बेचारी कहा जायगी और अब ऐसे लोग मिलते भी नहीं “काव्या ने नानी को एक जोर की झप्पी दे दी और सीधे अपने रूम की तरफ निकल पड़ी.

“कमरा याद हैं न बेटी”

“हा दादी मैं कैसे भूलूंगी कितना खेलती थी मैं वहां बचपन में. आप आराम करो मैं खुद जाती हु”

“ओके बेटी. कुछ लगे तो आवाज दे न. घर में नौकर हैं मैं भी हैं वो नजमा का बेटा हैं आने वाला था शायद उसने साफ़ करके राखी होगी तुम्हारी खोली”

काव्या सीडिया चढ़ते हुए बोली “ओके नानी.. आप फ़िक्र मत करो मैं देखती हूँ”

उसका घर सबसे पुराना और बड़ा था उस गाँव में. उसके नाना जी को सब पहचानते थे. बड़ा रुतबा था उनका. पर उनके गुज़र जाने के बाद मकान सुना हो गया. अब वह सिर्फ नानी और नौकरानी नजमाँ और उसका बेटा रहते थे. नजमाँ एक पुराणी नौकरानी थी वो काव्या को बचपन से जानती थी.

जब काव्या २ साल की थी तबसे वो वह काम करती थी. वैसे तो नजमा पे काव्या के नाना का बहुत सारे उपकार थे. उसका पति शराब में गिरा हुआ था और वो किसी औरत के साथ भाग गया.. तबसे वो वापस नहीं आया था. उसके पति को एक बेटा था रफ़ीक. फिर उसीने उसको पला पोसा अपने बेटे की तरह रखा. उसके बाद यही सब वो काम कर लेती थी. कहा जाता हैं के वो जवानी में बहुत भरी हरी भरी थी. और रफ़ीक के बाप के भाग जाने के बाद काव्या के नाना ने भी उसको चोदा था. शायद उसी काम के लिए उन्होंने उसको काम पे रख लिया.

काव्या को वो अपने हाथो से खाना खिलाती थी, नेहलाती थी और सुलाया करती थी. अब वो ४२ साल की हो चुकी थी. पर आज भी वो गरम थी. उसका बदन भरा हुवा था. आज भी वो उसके पडोसी रहीम चाचा से चुदवाया करती हैं. रहीम चाचा जो ६० साल का अधेड़ बुजुर्ग आदमी हैं. वो उसके पड़ोस में ही एक जुग्गी में रहता था. रफ़ीक के साथ उसकी बहुत जमती थी. बुढा बड़ा ठरकी था. उसने नजमा को बेटी बेटी बोल के एक रात उसपे हाथ मार ही दिया. दिखने में तो वो ६० साल का था पर चुदाई करते टाइम उसने ४२ साल की विधवा नजमा की नस नस तोड़ दी थी.

उस रात के बाद नजमा उससे हफ्ते में एक बार तो चुदवा ही लेती थी. जब भी रफ़ीक दोस्तों के साथ रात-रात बाहर रहता यहाँ उसकी सौतेली माँ अपना बदन रहीम चाचा से सेक लेती थी. रहीम चाचा की भी बीवी नहीं थी. दोनों का हाल एक जैसा ही था. वो शहर में ब्रा-पेंटी बेचने का धंदा करता था. उसका मालिक उसको इस काम के बदले छोटी मोठी रकम देता था. उससे उसका गुज़ारा चल जाता था. देसी शराब और मुर्गी खाके सोना और अपने दमदार लंड से नजमा की कस कर चुदाई करना जैसा उसके जीवन का एक अंग हो गया था.

दादी से मुलाकात करके काव्या अपने रूम में चली गयी. वो बहुत सालो बाद वह आई थी. रूम साफ़ तो नहीं थी. शायद रफ़ीक ने वो साफ़ नहीं की थी. उसने काव्या को बचपन में देखा था. वो काव्या से ८ साल छोटा था. काव्या उसको ज़र्ता पहचानती थी पर वो भी अब भूल गयी थी. खैर अपनी बैग बीएड पे डालके उसने रूम की विंडो खोली. एक बड़ी विंडो थी. जिसको खोलते ही सूरज की रौशनी अन्दर आ गयी और गाँव की ताज़ी हवा के साथ. और काव्या ने चैन की एक लम्बी आह भरी.
वो बहुत सालो बाद वह आई थी. रूम साफ़ तो नहीं थी. शायद रफ़ीक ने वो साफ़ नहीं की थी. उसने काव्या को बचपन में देखा था. वो काव्या से ८ साल छोटा था. काव्या उसको जादा पहचानती थी पर वो भी अब भूल गयी थी. रफीक के बारे में बताया जाए तो, रफ़ीक एक २० साल का युवक था. उसको पता था के उसकी माँ किसी गैर मर्द से चुद्वाती हैं. उसने कही बार उसके कच्छी पे सफ़ेद दाग देखे थे. और जब वो छोटा था तबसे उसको भनक लगी थी के रात में उसकी माँ कहराति क्यों हैं. इन सभी बातो से उसके मन में बचपन से ही सेक्स से भरी बाते बैठ गयी थी. वो बहुत उसमे रूचि लेता था.

उसके मवाली दोस्त उसको गन्दी गन्दी चुदाई की किताबे देते थे. पर वो था बड़ा शर्मीला वो उनके सामने उसको देखता भी नहीं था. पर उसको खुद पता नहीं चला कब वो उनको पढके अपनि मूठ मारने लगा था. रफ़ीक का लंड भी बड़ा मजेदर था. ७ इंच का एकदम कोरा लंड था उसका. वो हर बार फिल्मी किताबे देखता था उसमे सुन्दर अभिनेत्रिओं के फोटो देखके अपनी मुठ मारता था. उसने कही बार ब्लू फिल्मे भी देखि थी. इन सब से वो एकदम मर्द बन गया था. ये उसे तब पता चला जब उसका लंड रात में अपनी माँ के गांड को देखे फूलने लगा था.भले ही नजमाँ की वो सौतेली संतान थी पर सलमा उसका ख्याल बहुत रखती थी.
बचपन से नजमा उसको अपने साथ ही रखके सब काम करती थी जैसे खाना पकाना, कपडे धोना, नहाना, सोना. बात तो इतनी ज्यादा थी के आज भी वो रफ़ीक को एक बच्चे की तरह समझती थी. आज भी रफ़ीक अपनी हरी भरी माँ को अगर मन चाहे तो उसके ३८ के बड़े बड़े मम्मो को चुसकर सोता था. और वो भी उसको बच्चे की तरह पिलाती थी. शायद उसको वो बच्चा ही लगता था पर फर्क था के रफ़ीक अब जरा बड़ा हो गया था और वो उसपे ज्यादा जोर लगाया करता था.

मर्द सम्भोग में मादी पे हावी हो ही जाता हैं. वो उसको भोगना चाहता हैं. भले ही आधुनिक युग में नारी को पूर्ण रूप से भोग विलास में किरदार निभाये दिखाते हैं फिर भी अंतिम सत्य यही हैं के सौंदर्य और नाजुकता नारी का प्रतिक हैं. और मर्द उसका भूका. ये नियम से रफीक भला कहा बचने वाला था. अब रात में सोते वक़्त रफ़ीक के अन्दर का मर्द उसको ललकार रहा था. दिन भर दिन उसके हरकते बढती जा रही थी. शायद उसको वो नहीं समझ रहा था पर नजमा भले भाति सब समझ रही थी. उसकी नज़रे नजमा के मम्मो से हटकर अब उसके साडी के अन्दर जाने लगी थी. और नजमा भी उस बात को अच्छी खासी जान चुकी थी. रात में रफ़ीक कभी उसको चिपक के सोता था तो अपना हाथ उसके साडी के अन्दर डालने की कोशिश करता था पर वो उसके हातो को भिन्च्के अपने सिने से लगा लेती थी. और उसको सुलाने के सब उपाय करती थी. बिना बाप के और गरीबी की वजह से उसके कदम कही बहक न जाये इसलिए उसको आज भी वो बच्चे की तरह संभालती थी. उसके शादी तक उसको कही गलत लत न लगे इसकी वो पूरी कोशिश करती थी. सौतेली संतान को इतना प्यार देने वाली नज्म को बचपन की तरह अब उसको सुलाना इतना आसान नहीं रह गया था.
Reply
07-20-2020, 01:19 PM,
#13
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा

यहाँ काव्या अपने रूम की खिड़की खोलती हैं. बाहर की ताज़ी ताज़ी हवा से उसके रेशम जैसे बाल उड़ने लगते हैं. उसको बहुत सुकून का एहसास होता हैं. उसके रूम में एयर कन्दिश्नर था पर उसको उसकी ज़रूरत ही नहीं लगी. उसने चारो और नज़र दौड़ाई उसको सब तरफ बस खेत और खली सडके ही नज़र आये. उसका घर उस इलाके में बहुत शांत और सुनसान जगह पे था और मुश्किल से १ या २ मकान थोड़ी दुरी पे होगे. उसने एक गहरी सांस ली उसकी नज़र ठीक एक जगह गयी. उसके घर के ठीक सामने कुछ दुरी पे कुछ जुगिया थी. शायद वो मजदूर लोगो के लिए बनायीं गयी थी . वह पे कंस्ट्रक्शन का काम चल रहा था. पर फ़िलहाल वह काम बंद था. सो उस इलाके में पूरा वीराना भरा पड़ा था.

खिड़की वैसे ही खुली छोडके वो वापस अपने बेड की तरफ चल दी. उसके बेड के सामने एक बड़ा शीशा था. और उसके बाजू में उसका वार्डोब. शीशे के ठीक सामने ही रूम का दरवाज़ा था. दरवाजे से कोई भी शीशे में से अन्दर का झांक सके ऐसी कुछ बनावट थी रूम की. खैर काव्या ने अपने आप को शीशे में निहारा वो इतनी सुन्दर थी के उस वक़्त भी उसका बदन गजब ढा रह था. जाने क्यूँ उसके मन में अचानक ऑटो का सीन आ गया और सुलेमान का लंड ... और अचानक से खिड़की से आती हुई ठंडी हवा के साथ काव्या के होठों पे एक हसी झलक गयी.

“हा..हा...पागल कही का “काव्य उस समय को याद करके खुदे बड बड़ाई. और शीशी में देख के शर्मा गयी.

वो उठी अपने बाल सवारे. दिन भर की थकान से वो थक गयी थी. उसने अपना बैग बेड पे ही डाल दिया और उसमे से एक तोवेल निकाला और ब्रा प्यांति निकाली. उसकी इम्पोर्टेड ब्रा और प्यान्ति उसके पति ने उसको गिफ्ट दी थी. उसने अपनी शिफोन की साडी निकाल के निचे फेकी और अपना ब्लाउज निकाल के बाजु कुर्सी पे दाल दिया. क्या नज़ारा था, ब्रा और पेटीकोट में एक राजसी महिला खड़ी थी. ठीक वैसे ही वो बेड पे बैठती हैं.
उसको मोबाइल देख रमण की याद आई. उसने मोबाइल उठाया और रमण का नंबर डायल किया.

काव्या: “हेलो..जाणू”
रमण: “ओह..ही..डिअर.कहा हो पहुच गयी?”
काव्या: “हा..जस्ट..नानी से मिली और तुम्हारी याद आई..”
अपने ब्रा की straps को सीधा करते हुए वो रमण से बात कर रही थी.
रमण: “ओह हनी आई मिस यू टू”
काव्या: “मुझे बहुत मनन कर रहा हैं तुमसे बात करने का..जानू”
रमण: “ओह डिअर..अभी नहीं मैं मीटिंग में हूँ. मैं शाम में फ़ोन लगाता हु”
काव्या: “जाओ तुमको मेरे लिए हमेशा वक़्त ही नहीं रहता..जाओ मैं नहीं बात करती”
रमण: “ओह डिअर वेट“

और गुस्से से काव्या फ़ोन कट कर देती हैं. रमण हमेशा अपने काम में बीजी रहने से उसको वक़्त नहीं दे पाता. सो उसकी कमी अब काव्या को बहुत खल रही थी. उसने गुस्से से मोबाइल लिया और कुछ चाट निकाला. उसमे कुछ फोटोस और चाट वो पढ़ते बैठी. अपनी ब्रांडेड ब्रा और पेतिकोट में बेड पे बैठी काव्या को, मोबाइल से पुराणी यादे पढ़ते पढ़ते और ठंडी ठंडी खिड़की से आती हुयी हवा से कब आँख लग गयी समझा ही नहीं. और वो वही नींद के मारे ढेर हो गयी.

Reply
07-20-2020, 01:19 PM,
#14
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा
आह,,,याह फ़क मी...उम्म्म्म..”

यहा नजमा का सौतेला बेटा रफीक अपने दोस्त बीजू के घर टीवी पे पोर्न देखते बैठा था. उसमे एक जवान नौकर अपने मालकिन को चोदते हुए सीन चल रहा था. जिसमे मालकिन बड़ी उछाल उछाल के नौकर का लंड अपने योनी में ले रही हैं.

“आह...साले रफीक..क्या माल हैं रे..ऐसा मिले न मैं तो दिन रात चोदु..” आवारा बीजू रफीक से बोला.

रफीक थोडा शर्मीला किस्म का लड़का रहने से ज्यादा खुलके बात नहीं करता था. बड़ी एकाग्रता से वो हर एक सीन देखे जा रहा था. उसका जवान लंड वो सब देख के तम्बु बन गया था. बीजू जहा एक आवारा लड़का था. पढ़ाई कम और मस्ती जादा करना उसको पसंद था. न जाने कैसे रफीक उसके चक्कर में गिर गया. वो उसको अलग अलग सेक्स की किताबे, फिल्मे देखने देता था. उसके पास कही पोर्न फिल्मो की CD और किताबे थी. उसकी PHD उसमे ही शायद उसको करनी थी. दोनों की इम्तेहान १ महिने पे लटकी थी पर सब भूलकर दोनों नवाबो की तरह पोर्न देखते बैठे थे.

बीजू अपना लंड बाहर निकाल के उसे मलते हुए बोला,” रफीक. लाइफ हो तो ऐसी देख. रोज सिर्फ आराम हो और चुदाई को नए नये माल”

रफीक थोडा शर्मीला था उसने कच्छे के अन्दर ही अपना लंड मलते हुए चुपचाप टीवी पे नज़रे रखी.

“अच्छा रफीक, साले तू तो तेरा लंड छुपाके रख बस. मैंने तो इसको बहुतो को दिखाया हैं.”

“अच्छा किसको?” रफीक ने बड़ी विलोभनीय अंदाज़ में पुछा.

“अपने क्लास की लडकि हैं देख वो माल मीनू, उसकी छोटी बहन मंजू परसों दोपहर खेत में घूम रही थी. मैंने उसको लपक लिया”

“फेक मत बीजू..कुछ भी”

“अबे साले, तेरे जैसा समझ रहा क्या? सुन..उसका हाथ मरोड़ के उसको वही मसल दिया”

“फिर..आगे ? क्या किया”

“आगे उसके आम दबाये पर साली मेरा नंगा लंड देखके भाग गयी”

“अबे भागे गे ही न, वो तो दसवी कक्षा में हैं सिर्फ”

“माल हैं माल..कैसे आम हैं साली के .. दबा के देख गांडू फिर बोल मीनू से भी आगे हैं“

“तुझे क्या काम हैं बे दूसरा?”

काम से रफीक एकदम चौक गया. उसको याद आया उसको आज काव्या का कमरा साफ़ रखना था. जो वो भूल गया था. अब उसको पक्क्का लगने लगा आज तो गाली पडनी हैं. बुढहीया भी और उसकी मा , दोनों तरफ से. वो अचानक से उठ के बाहर जाने लगा.

“अबे डरपोक..कहा भाग रहा ? उसका बाप आया क्या?”

“अबे नहीं..मुझे काम याद आ गया वो करने जा रह हु”

“कौनसा वो तेरी बुध्हिया मालकिन का काम या तेरी मस्त मा का काम”

“देख बीजू. मा के बारे में ऐसा वैसा मत बोल मैंने पहले ही कहा हैं तुझसे “

“अबे साले, तारीफ़ की और क्या किया ? सुना हैं तेरा पडोसी वो बुढह रफीक बड़ा तारीफ़ करता हैं तेरे मा की. मैंने की तो क्या हुवा बे हरामी “

“ देख बीजू बस हो गया. मुझे जाना हैं इसलिए जाने दे रहा हु”

“ अबे मर कमीने..गांड मरवा अपनी मालकिन से “

रफीक सब भुला के अपनी साइकिल पे काव्या के घर भाग पड़ा. साइकिल चलाने में मशहूर आज उसको किसि फरारी के जैसे भगा रहा था. सर पे टोपी, एक शर्ट और गाओ वाला कछा पहन के वो किसी सुपरमैन जैसा साइकिल भगा रहा था. गाँव में वो वैसा ही रहता था. २० साल का होकर भी उसके कछे की आदत नहीं गयी थी. जाने कितनी बार गाँव की लडकिया उसके जवान लंड को घुर के आहे भर लेती. नदी किनारे जब वो नहाने जाता तब उसका जवान लंड देख कितनी औरते अपनी चुचिया मसल लेती. नजमा ने उसको उसको बच्चे की परवरिश की थी उसका असर अभी भी चल रहा था. पर हर कोई उसको उस नज़र से थोड़ी देखेगा. अपना ताना हुआ लंड लेकर वो ऐसे भाग रहा था जैसे कोई रेस लगी हो.

कैसे तो करके वो काव्या के घर पहुच गया. उसने पिच्छे के दरवाजे से अन्दर की और छलाँ मारी. उसको घर का कोना कोना पता था. उसको यह भी मालूम था के बुधिया अब सो गयी होगी. उसको बस अपना काम करके चुप चाप निकलना था. वो घर की छत पे आ गया. और वह से सीधे घर के अन्दर. बात जैसे सोची थी वैसे ही निकली. काव्या की नानी अपने रूम में सो गयी थी.

“हम्म...चलो अब आराम से खोली साफ़ कर लेता हूँ”
उसने थोडा रुक के सासे ली.उसकी धड़कन तेज़ भाग रही थी. २० मिनट से बिना रुके वो साइकिल भगा जो रहा था. घडी में देखा तो शाम के ४ बजे थे. उसने सोचा अब जल्दी से रूम साफ़ करके निकल जाता हु. शाम में नजमा आएगी तब तक निकलना होगा. शायद काव्या आइ नहीं अभी तक ऐसा उसने सोचा. सो बड़े सुकून से वो अब चल रहा था.

हॉल में एक सेब उठा के उसको खाते खाते अगले ही पल उसने झाड़ू हाथ में लिया और काव्या की रूम की तरफ अपने कदम बढ़ाये. खोली का दरवाजा जो पहले ही खुला था उसमे उसने प्रवेश किया. जवान शर्मीला रफीक के किस्मत के दरवाजा आज खुला होने वाला था. शायद वो उसकी पोर्न फिल्म को भी भूल जाए
Reply
07-20-2020, 01:19 PM,
#15
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा
“उईईईइ अम्म्मी......मर गयी.......”

सलमा के मूह से चिख निकली. यहाँ सुलेमान अपना मुसल तना हुआ लंड सलमा के योनी में घुसेडता जा रहा था. जो सर सर करके साप के भांति उसके बिल में घुसे जा रहा था. सलमा को सुलेमान और सत्तु खेतो में सुलेमान के झोपडी में लाये हुए थे. काव्या के बंगले से ऑटो मोड़ उन्होंने सीधे वही अपना डेरा जमाया. जैसे ही ऑटो झोपडी के पास रुका. ऑटो में से सलमा को बाहों में उठाके दोनों कलुटे उसको अन्दर की खाट पे पटक के चालू हो गए. पलक झपकते ही सलमा के कमसिन योनी में सुलेमान ने अपना तना हुवा लंड घुसा दिया था. एक घंटे पहेले की चुदाई फिर से शुरू हो गयी थी. ये इतना तेज़ हुआ के सलमा को समझने का मौका ही नहीं मिला.

“आः....सलमा... रानी... इतना क्यों चीख रही हो?? अब तो इसकी आदत कर लो जान”

सलमा की चूत ने अपना मुसल लंड धसाते हुए सुलेमान सलमा के बदन पर टूट पड़ा. उसकी चुन्चियों को मसलते हुए वो उसकी योनी में कोहराम मचा रहा था. बाजू में सत्तू मादरजाद भी अपनि पतलून निकल के नंगा खड़ा हो गया. उसने अपना लंड हाथे में हिलाते कहा,

”अरे सुलेमान भाई..जरा तनिक जगह दियो..हमका भी सलमा के साथ खेलन खेलन हैं”

“अबे रुक..मादरचोद..पहले बाप को करने दे. पहले ही उस रंडी डोक्टोरनी ने लवडे में आग लगा दी हैं. साला कब से तना पड़ा हैं. इसको चूत खाने दे बहनचोद..आह...”

काव्या को अपने आँखों के सामने लाके सपाक बोलके सुलेमान ने अपना लंड पूरा का पूरा सलमा के योनी में बड़ी तेज़ी से और निर्दयता से भीच दिया.

“ आआआआआआआआ...... छोड...मार दिया कमीने.........”

सलमा के मूह से फिर से एक जोरदार आह निकली. उसकी चीख इतनी दमदार थी के सत्तू के कानो में भूचाल आ गया. आर उसके हाथ उसके लंड से सीधे उसके कान पे जा रुके.

“अबे साली, कान फाड़ देगी क्या? रुक, तेरा इलाज करना पड़ेगा..”

सत्तू ने यहाँ वह देखा. और नन्गा मादरजाद किसी रेडे के माफिक ज़मीन पे बैठ गया. खाट के नीचे रखी हुयि एक देसी शराब की बोतल उसको दिख गयी. उसने अपना हाथ खाट के निचे डाल दिया और वो बोतल निकाली. उसमे से थोड़ी शराब निकाल के बाजु पड़े एक गिलास में दाल दी. एक घूँट में ही उसने वो गिलास गटक लिया.

“आह....मजा आ गया ..तनिक अब अच्छा लग रहा मादरचोद..”

अपने गंदे मूह से सलमा की और देख के उसने कहा,
“हम्म..आई हाई..क्या मस्त ले गयी अन्दर तू तो ...चीलाती बहुत हो सलमा तनिक..पियोगी? मजा आएगा तुझे भी...”

और शराब गिलास में डालकर वो सलमा के पास आया. उसने वो कडवी शराब सलमा के मूह को लगाके बोला,
“इससे पियो सलमा...चिल्लाओगी नहीं..तनिक मजा लोगी“....

सलमा ने मूह दूसरी तरफ गुस्से से फेर लिया.

इसपे सुलेमान बोला ,“अबे चूतिये, ये ऐसे नहीं मानेगी..इसका इलाज हैं देख अब..”

सुलेमान ने उसकी नाक दबाई और अपना लंड एकदम से पूरा बाहर निकल के ज़पाक से एक और बार अन्दर चूत में भीच दिया. किसी सुनामी के प्रति उसने सलमा के चूत में हमला बोल दिया. वो दृश्य भी अजीब था ऐसा जैसे काऊबॉय की तरह सुलेमान सलमा को घोड़ी की तरह नचा रहा हो.
ना चाहते हुए भी सलमा का मूह खुल गया और तुरंत बाद सत्तू ने वो गिलास उसके मूह पे लगा दिया. कडवी देसी शराब उसके गले के अन्दर पूरी की पूरी उतर गयी. जैसे ही सुलेमान ने सलमा का नाक छोड़ा, सलमा ने धस करके अपनि सांस छोड़ी. और नीचे मूह में बची थोड़ी बहुत शराब थूक दी. दोनों कलूटे राक्षस की तरह हंस पड़े. देसी शराब का असर अब सलमा पर जो पड़ने वाला था. झोपडी में मानो शराब और शबाब का मौसम चालू हो गया. और दोनों कलूटे उसमे मन चाहे डूबकी लगा रहे थे.

इधर रफीक बड़े आराम से काव्या के कमरे की और बढा जा रह था. वो जैसे ही कमरे के चौकट पे आया..
उसके कच्छे में कुछ वायब्रेट हुआ. शायद उसका मोबाइल बज रहा था. उसने तुरंत कच्छे की जेब से वो अपना पुराना मोबाइल फ़ोन निकला तो देखा तो उसके दोस्त बीजू का फ़ोन था. वो कमरे से थोडा दूर गया और फ़ोन उठाके बोला:

रफीक: हां बोल बीजू क्या हैं?
बीजू: अबे कमीने कहा पर हैं?
रफीक: मैं मालकिन के पास हु काम पे क्यों फ़ोन कर के सता रहा हैं बे?
बीजू: अबे गांडू तू गांड मरवा वही. मैंने इसके लिए फ़ोन किया था तुझे कुछ बताना था..
रफीक: क्या हैं जल्दी बता दिमाग मत ख़राब कर पहले ही काम बहुत हैं
बीजू: अबे डिब्बे सुन..तेरी मा को अभी मैं रहीम बुढ्ढे के साथ देखा दोनों बडी हंस हंस के बाते कर रहे थे. शायद आज कुछ हैं..
रफीक: देख बिजु मैंने पहले ही बोला हैं मा के बाते में कुछ मत बोला कर. इसलिए फ़ोन किया क्या तूने
बीजू: अबे बीमार लंड तेरी मैं मदत कर रहा हु और तुम मुझे ही बोल रहा हैं.जा मा चुदा मुझे क्या? पर देखना आज तेरी मा रात में कैसे खिली खिली लगेगी,,हां,,

और उसने फ़ोन काट दिया. रफीक को उसके मा के बारे में कुछ सुनना ठीक नहीं लगता था. भले सौतेले थे दोनों, पर एक दुसरे के प्रति सम्मान की भावना रखे हुए थे. पर आज बीजू की बातो से उसको बहुत गुसा आया था उसने कुछ न कहते गुस्से से फ़ोन पटक दिया. और जेब में रख दिया. उसने कैसे तो खुदपे नियत्रण कर के झाड़ू उठा या और काव्य की खोली की और मुडा. नद्दान रफीक को नहीं पता था यह गुस्सा और अब जो उसको दिखने वाला था वो हकीकत उसको शायद बीजू की कामुक बातो पे गौर करने को मजबूर कर दे.
Reply
07-20-2020, 01:19 PM,
#16
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा
बड़े आराम से रफीक काव्या के कमरे की तरफ बढ़ा. उसने जैसे ही कमरे में प्रवेश किया उसको एक अजीब सी गंध आ गयी. वो खुशबू थी काव्या के डियो और पाउडर की. उसने ज़िन्दगी में पहली बार ऐसी कड़क खुशबू ली थी. उसको वो इतनी पसंद आई के उसकी आँखे खुद बे खुद बंद हो गयी. और वो उस खुशबु में बहता चला गया. उसने उस खुशबू का पिछा लिया तो काव्या के ड्रेसिंग टेबल पे बड़े शीशे के सामने राखी हुई वो डियो की बोतल उसको दिख गयी. उसने वो हाथ में उठायी और नाक को लगा के सूंघी. जैसे ही वो बोतल के पास रखने गया उसकी नज़र शीशे पे चली गयी. उसने शीशे में देखा, तो उस नज़ारे के सामने उसकी वो खुशबू मानो कही दौड़ के चली गयी हो. उसके होश उड गए. आँखों पे अँधेरा छा गया. उसके हाथ पैर कापने लगे. और उसका मूह खुला का खुला ही रह गया.

सामने बेड पर एक योवन सुंदरी निद्रामय अवस्था में थी. उसके बाल बिखरे हुए थे, जो उसकी सुन्दरता को और निखार रहे थे. उसके चेहरे पे एकदम कामुक और सुकून के भाव देख कर जैसे किसीको भी ह्रदय से प्यार करने के और मन चाहा भोग भोगने के भाव एक ही समय पे आ जाये. और वो इन्सान पागल हो उसको पाने के लिए. अपने पेट के बल सोने के कारन उसकी गोरी दूध जैसी मखमली पीठ और विशाल उभरा हुआ सुडोल पिछवाडा उठकर दिख रहा था. गोरी गोरी पीठ पे उसकी ब्रा तो कहर मचा रही थी. गहरे नींद में होने कारन उसका पेटीकोट भी जांघो तक ऊपर उठ गया था. जिससे उसके ब्रांडेड प्यान्टी की झलक बाहर आ रही थी. चिकने गोर मुलायम पैर जैसे भोजन के लिए दावत दे रहे थे. उसकी सुन्दरता और उसका कामुक बदन देख के अच्छे अच्छो का मन डोल जाए. कोई अप्सरा निद्रा अवस्था में आज रफीक ने देख ली थी जिसके कारन २० साल का देहाती युवक होश के बाहर हो गया.

कुछ देर तक वैसे ही देखते रहने के बाद अचनक उसका ध्यान टूटा. उसका मोबाइल वायब्रेट हो रह था, उसने होश में आके फ़ोन देखा बीजू का कॉल देखकर उसने वो कॉल काट दिया. और मोबाइल अपने जेब में रख दिया.
जाने किस बात की उसमे ताकद आ गयी के हमेशा डरपोक किस्म का रफीक आज किसी योध्हा की तरह आगे बढ़ रहा था. उसको काव्या की खूबसूरती अपने तरफ खीच रही थी. और वो सम्मोहन की तरह उसके तरफ बढ़ते जा रहा था. उसका बदन तो डर के मारे काप रहा था पर उसका जवान कमसिन लंड ने उसपे दीमाक पे अपना ताबा कर रखा था. और उसकी गर्मी उसको मिल रही थी.

वो काव्या के ठीक सामने खड़ा हो गया. उसने गौर से अपनी नज़रे उसके सर से लेकर पाओ तक घुमाई. क्या लग रही थी वो. उसके मनन में डर और वासना दोनों हावी हो रहे थे. काव्या जैसी खुबसूरत और मादक महिला उसने सिर्फ फिल्मो में देखि थी. उसको वो पोर्न फिलम का सीन आँखों के सामने आया जिसमे विदेशी औरत अपने नौकर से उछाल उछाल के चुदवा लेती हैं.

उसके लंड ने झटका लिया. “आह”, उसके मूह से हलकी सिसक निकल गयी.

तुरंत उसने अपने मूह पे हाथ रख दिया और खुदको चुप किया. सन्नाटा पुरे खोली में छाया था. खिड़की से हवा की एक पहल अन्दर आई और सन्नाटे को थोडा कम कर के चली गयी. हवा से बदन को रहत तो मिली पर लंड को कहा कुछ हुआ. वो तो ललकार रह था. और रफिक पूरी तरह से उसके चुंगुल में बांध चूका था.

उसने यहाँ वह देखा. एक बार काव्य के चेहरे की और देखा जो घने रेशमी बालो में दबा हुआ था. सब तरफ सन्नाटा देख के उसकी हिमात उसने लंड ने बढ़ा दी. वो काव्य के नज्दिल सरका और बेड पे बैठ गया. काव्य के पैर उसकी तरफ थे. रफीक की नज़रे उसपे दौड़े जा रहे थे. पर साथ ही उसकी धड़कन जो राजधानी जैसे भाग रही थी. उसको डर भी था कही कोई देख न ले पर उत्सुकता भी थी के एक बार बस..दोनों बड़ी उल्ज़नो में फस रफीक अपने लंड की ही बात सुनता हैं और वो करने लगता हैं जिसका कुछ देर पहले शायद विचार भी उसने ना किया था.

यहाँ दूसरी तरफ सुलेमान कस कस के सलमा को चोदे जा रहा था. १५ मीनट हुए वो सलमा की चूत में अपने लंड को पेले हुए था. और देसी शराब का नशे का असर अब उसपे भी होने लगा.

“आह...मेरी रानी...रंडी ...चुदवा ले.....”

सुलेमान की इस गाली का जवाब भोली भली सलमा ने ऐसा दिया के दोनों कलूटो के पैरो निचे ज़मीन खिसक गयी.

“ हां.. भडवे..चोद..उम्...जितना चाहता हैं चोद..आन्न्न....तू तो, तेरी, आह....सगी बहन को भी न छोड़े... उम्..मैं तो भांजी हु...भडवे..आह..” दोनों मादरजाद उसकी ये बाते सुनके चौक तो गए पर जोर से हसने लगे.

सत्तू बोला, “ अरे वा... सलमा बोला था न शराब पीकर देखो मजा आएगा तुमको भी...देखी हमरी राय सुनने का फायदा..”

सुलेमान अपना लंड सलमा की चूत वैसे ही मार मार ते बोला, “ अबे बहनचोद...आह...साले शराब नहीं,, ये मेरे लंड का कमाल हैं...आह....मेरी सलमा...चुद...”

“बात तो सही हैं गुरु..हमें भी अपना हिस्सा खाने दो .कबसे अकेले ही खा रहे हो...”

सत्तू को अपने तरफ आते देख सलमा भी नशे से चूर बोल पड़ी, ““अबे भडवे...रुक..आआः....रुक तू ज़रा..इस कमीने का... होने दे..अम्मी....”

सलमा की इस बात पे और दोनों जोर से हंस पड़े. सुलेमान आज जादा ही जोश में चुदाई कर रहा था शायद उसको सलमा की बाते सुनके और नशा चढ़ रहा था. २० मिनट होने को थे, उसका लंड हैं के झड़ने का नाम ही नहीं ले रहा था. सलमा की शराब उसको इस कसी हुयी चुदाई का मजा लेना सिखा रही थी जिसका वो खुद होक मजा ले रही थी.

सच में शराब कैसी बुरी बला हैं जो मर्द तो मर्द , औरत को भी अपने जैसा बना देती हैं. भोली सलमा भी शराब के नशे धुत अनाब शनाब बके जा रही थी. भले ही उसने उनके तौर तरीको में ही पलटवार किया था पर ये उसका आत्मविशवास नहीं था बल्कि शराब का नशा बोल रहा था. पर क्या सिर्फ शराब ही यह साहस दे सकती ?हैं ऐसा नहीं. क्योंकि रफीक बिना शराब के साहस करने जा रहा था. कुछ भी हो दोष किसका भी हो, यह अंतिम सत्य हैं के मनुष्य भोग और नशे में खुदको भी भूल जाता हैं इसका सलमा और रफीक प्रत्यक्ष उदहारण हैं. बस फर्क था एक तरफ एक कमसिन औरत थी और एकतरफ नव युवक.
Reply
07-20-2020, 01:20 PM,
#17
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा
यहाँ सुलेमान धक्के पे धक्के मार रहा था. २० मिनट होने को थे लेकिन वो तो झड़ने का नाम नहीं ले रहा था. चुदाई का जैसे कोई भूत उसपे सवार हो गया था. ये सब देख सत्तु नशे में धूत, बाजु में ही खुदका लंड हिलाते हुए खड़ा का खड़ा देख रहा था.

“गुरु...बस भी करो...हमका भी खाने दो माल...”

सुलेमान अपने धक्के चालू रखते हुए वैसे ही हाफ्ते हाफ्ते बोला, ”अबे मादरचोद...रुक ..आज साला मन नहीं कर रहा रुकने का..आआह्ह...आज खाने दे..डोक्टोरनी ने आग लगा दी हैं...आह..”

उसके मूह से डोक्टोरनी का नाम सुनते ही सलमा को थोडा समझने लगा. और उसका शक यकीन में बदल गया. दोनों कलूटो ने क्यों इतनी दरियादिली दिखाई थी काव्या के प्रति इसका राज उसको पता चल गया. ये सब बाते जानकार नशे में धूत सलमा गुस्से से आग बबूला हो गयी और उसने चुदते-चुदते ही सुलेमान की और देख बोला,

” आः....आ...कुत्ते..इसलिए ये सब चल रहा हैं...आःह्ह...तो बीबी जी की ले न...मेरी क्यों ले रहा हैं..आह...अम्मी......”

२० मिनट से लगातार धक्के खाती हुयी सलमा अटक अटक के बड़े कामुक अंदाज़ में गुस्से से सब बोल रही थी. पर इसका परिणाम होता उल्टा. उसकी ऐसी बाते सुनके असलम को और ज्यादा जोर आता. वो हर आगे का धक्का पिछेवाले से जोर से लगाता. और उसका हिसाब बराबर करता. उसने अपने धक्को की रफ़्तार बधाई और बोला,

“आह्ह,,,ये ले मेरी सलमा रानी...अब उस रंडी को भी चोदुंगा..पर पहले ..आः....तेरी चूत तो खाने दे..”

और एक जोर का धक्का लगाके उसने सलमा की चूत के कोने कोने में अपनी मौजूदगी दिखा दी. झोपडी में आहो की चीखों की आवाजे घूम रही थी. शराब की बदबू और शबाब की खुशबू से वो समा इतना मादक बन गया था के मत पूछो. सलमा भी अब खुद होके इन सब का मजा ले रही थी. उसको ये सब पसंद आने लग रहा था. जो नफरत उसको एक घंटे पहले आ रही थी अब वो नफरत वासना में परिवर्तित हो गयी थी. इसमें कारन सुलेमान था के काव्या थी ये बड़ी रोचक बात हैं. सुलेमान से हो रही चुदाई को देख उसको ये भी लगने लगा था के सुलेमान के इस रफ़्तार को रोकना हैं तो उसीको ही कुछ करना पड़ेगा.

झोपडी से ठीक उल्टा समा काव्या के रूम में था. एकदम सन्नाटा और ठंढी शीतल हवाओं से वह सब तरफ एक अलग ही रम्यता आई हुई थी. उस वक़्त अगर वह कोई चीज शोर कर रही थी तो वो थी रफीक के दिल की धड़कने. अपने धड़कने और कापते हाथो को संभाल के वो काव्या का रूप पूरी सयमता से निहार रहा था. उसकी पिंडलिया जांघो से लेकर पीठ तक की खूबसूरती उसके जवान लंड में उतर रही थी. पर ये सयमता का बाँध टूटने जा रहा था. उसके मूह में पानी तो आ रहा था लेकिन हाथ काप रहे थे.

उसने थोड़ी हिम्मत बढायी, चुपके से यहाँ वह देख वो काव्या के करीब गया. अपना एक हाथ उसने काव्या के पैर पे रखा. आह...क्या मुलायम पैर थे उसके. उसका हाथ थर थर काप रहा था. धड़कने इतनी तेज़ हो गयी थी के मानो वो दिल को चीर के बाहर आ जाये. काव्या के बदन की खुशबू उसको पागल बना रही थी और उकसाने का काम भी कर रही थी. उसने अपना हाथ वैसे ही उसके पिंडलियों पे थोड़ी देर के लिए रखा. और धीरे से उसके जांघो की तरफ उनका रूख मोड़ लिया.

थोडा आगे जाके वो थोडा और झुक गया. किसी सम्मोहन की तरह काव्या की जांघो को घूरता बैठा. काव्या की और से कोई हरकत ना देख उसकी हिम्मत और बढ़ी. और बड़े ही वीरता से उसने अपने दोनों हाथो से काव्या की जांघो को बहुत ही धीरे से पकड़ लिया. जसी उसने कोई किला जीत लिया हो. मुलायम, गोरी, दूध जैसे जाँघों को हाथ में लेते ही उसके लंड में बहुत ज्यादा तनाव आया गया. जीवन में पहली बार ऐसी रूप सुंदरी सामने देख और उसको छू कर उसकी हालत और ख़राब होने लगी जिसके कारण उसके मूह से सिसक निकल गयी.

”आह....”..

“आह....आह....सलमा...तेरी चूत की तो....आह....डोक्टोरनी.. आह...”

सुलेमान के धक्को को बर्दाश्त कर के सलमा भी अब चुदाई का भरपूर मजा ले रही थी. अचानक उसनके वो किया जो उन दोनों ने पहली बार देखा. उसने अपने दोनों पाँव उठा लिए और सुलेमान की पेट के ऊपर जकड दिये. सत्तू ये देखकर चौक गया. सलमा का ये रूप उसने कभी नहीं देखा था. सलमा वही नहीं रुकी तो उसने सुलेमान का सर अपने हाथो में भींच कर के उसको अपने सीने से रगड़ के रखा. इस कारन सुलेमान के लंड में तनाव आना शुरू हो गया. क्योंकि सलमा अपने चूत में खुद होकर उसका लंड निगल रही थी.

“चोद..भड़वे...चोद...मिटा दे अपनी भूक...आः.....”

सलमा की ये बाते और उसका रूप देख सत्तू हस पड़ा. अपने नशे में धूत वो सलमा के करीब आ के बोल पड़ा,
“भूक तो तुझे भी लगी हैं रानी... अब बर्दाश्त हमका भी नहीं हो रहा चल पकड़...”

और अपना खड़ा लंड वही उसके हाथ में दे दिया. सलमा ने कोई देरी ना करते उसका लंड अपने हाथ में पकड़ लिया और उसको आगे पिच्छे करना चालू कर दिया. दृश्य बहुत ही विचित्र बन गया था. बड़े कामुकता से सलमा उसका लंड भी मसल रही थी और सुलेमान का लंड जकड भी रही थी. उसकी इस हरकत से दोनों कलूटो को असीम आनंद की प्राप्ति हो रही थी. ऐसा लग रहा था मनो दो नर एक मादी को भोगने चले हो लेकिन असल में मादी ही नरो का भोग करने बैठ जाए. ठीक ऐसे विलोभनीय कामुक अंदाज़ में काम वासना का चल चित्र वह प्रतीत हो रहा था. दोनों तरफ नारी ही अपनी शक्ति का प्रदर्शन कर रही थी. वो थी उसकी सुन्दरता और कामुकता.
काव्या के जांघो से आती हुई खुशबू रफीक को पागल बना रही थी. वो उसको महसूस कर रहा था. उसको और ज्यादा करीब से वह मखमली जिस्म महसूस करना था. लेकिन उसको डर था कही काव्या जाग न जाए. उसकी संयमता की दाद देनी पड़ेगी. वो वह से उठ गया और काव्या के चेहरे की तरफ चला गया. एक बार उसने काव्या को थोडा सा कंधे से हिलाया, या मानो, सीर्फ हलकासा स्पर्श किया के कही वो अगर जागी हो तो समझ जाए.

किन्तु दिनभर की थकान से ये युवती गहरी नींद में इस कदर डूब गयी थी के उसको अब किसी हाल की परवाह नहीं थी. रफीक की हिम्मत इससे बढ़ गयी. उसने अपना रुख फिर से काव्या के बदन की और मोड़ दिया.

उसके गोरे मुलायम पीठ पे जैसे ही उसने हाथ रखा. उसके अन्दर जकडन आने लगी. वो पागल हो गया क्या करू क्या नहीं. काव्या की सुन्दरता की और उसने घुटने टेक दिए. नौजवान युवक ने अपने होठ काव्या के पीठ पे लेके टिका दिए. वो तो उसको बाहों में भरना चाहता था पर उसकी हिम्मत उतनी ज्यादा नहीं थी. उस समय वो काप रहा था पर साथ ही काव्या के बदन से आती हर मादक खुशबू सूंघने में वो मशगुल भी था.

तभी एक हवा का झोका किसी बिन बुलाये मेहमान के भाति खिड़की से आया और काव्या ने अपना शरीर नींद में ही थोडा हिलाया.रफीक को मानो दिन में तारे दिख गए हो. वो वही जम कर अकड गया. पल भर के लिए उसको लगा के काव्या जाग ही गयी. वो हिल भी नहीं सकता था. वैसे ही काव्या की पीठ पे वो चिपक के वो चीपका रहा. कुछ समय के लिए उसने अपनी साँसे तक रोक ली, पर काव्या तो गहरी नींद में थि बस ये हवा का झोका शायद उसको नींद में छेड़ने के लिए आया हो. कोई हलचल न देख राहत से रफीक ने अपनी रुकी हुयी गरम सांसे काव्या की पीठ पर ही छोड़ दी. पर काव्या जब हिली थी तब उसका पेट ऊपर की और आ गया और उसका गोरा मुलायम पेट साथ ही भरे भरे स्तन ब्रांडेड ब्रा में कैद रफीक की नजरो के सामने आ गए.

“आह....ले रंडी...आह....और ले...”
Reply
07-20-2020, 01:20 PM,
#18
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा
यहाँ दूसरी और सुलेमान के पलंगतोड हमलो से सलमा की योनी में सिरहन आने लगी. थोड़ी देर बाद सुलेमान ने अपना लंड निकाला और उसकी चूत में सपाक बोलके ऐसा भींच दिया मानो कोई तलवार। उसकी चूत इतनी गीली हो गयी थी कि लंड उसकी चूत में जड़ तक समा गया। उसने जोर से सिसकारी भरी और सुलेमान को अपनी बांहों में जकड़ लिया। सुलेमान ने और तेजी से धक्के मारना चालू कर दिया। हर धक्के पर उसकी सिसकारियाँ तेज होती जा रही थी। इस लम्बी हुई चुदाई से एकदम से उसका बदन थरथराया और उसने कस कर सुलेमान की पीठ पर नाख़ून गाड दिए. सत्तू का लंड अपने एक हाथ में मसलते हुए उसने अपनी आँखे बहुत जोर लगाके मीटा दी और अपने होठ चबाके एक आह भरी...

“आह....अम्मी....मई तो गयी......”

यहाँ सलमा ने अपना पानी छोड़ दिया था. वो झड गयी थी. उसके बुर में से उसका काम रस रिस होकर बह उठा जो सीधे सुलेमान के लंड के ऊपर से चलते होके खाट पे बह गया. वो निढाल होकर ढेर हो गयी. अब सुलेमान भी अपने चरम सीमा पर था. आधे घंटे से वो सलमा को चोदे जा रह था. उसका भीगा लंड अब अकड़ कर फुल रहा था. सलमा को उसके गरम फुलेहुये लंड की हलचल अपने योनि में महसूस हो गयी.

महसूस तो रफीक को भी बहुत कुछ हो रहा था सलमा की तरह. बस एकतरफ शोर का माहोल था और दूसरी तरफ वीराने का. एक तरफ बदन से बदन घिस रहा था तो दूसरी तरफ एक हल्का सा स्पर्श मिल रहा था. कितने अलग दृश्य थे दोनों भी. एक तरफ तूफ़ान था तो दूसरी तरफ पहल. एक तरफ अंत था तो एक तरफ प्रारंभ. जहा सुलेमान नोच-नोच के देहाती खाना खा रहा था और एक तरफ रफीक जो फुक-फुक के शाही दावत का लुफ्त उठा रहा था. पर दोनों में एक बात एक जैसी थी और वो थी “काम वासना” जो उस वक़्त अपने शिखर पर विराजमान थी.

रफीक अब ज़रासा निचे हटा काव्या के पेट को देख बैठा. उसकी लालसा और बढ़ गयी थी. वो हल्का सा निचे आया और अपने होठो से उसके पेट की एक चुम्मी ले ली. वो जैसे दूसरी दुनिया में चले गया. उसको कुछ होश नही रहा. भरपूर जवानी और खूबसूरती से भरी पड़ी राजसी शहर की महिला उसके लिए मानो एक ऐसे बला थी जिसको वो प्यार करना चाहता था, और शोषण भी. बड़े आराम से वो उसके बदन की खुशबू और गर्मी को सेक रहा था. उसके मुलायम बदन के कोने कोने को वो चाटना चाहता था. उसने वैसे ही काव्या के बदन से अपना बदन धीरे से लपेट लिया. और अपने कानो से उसकी धड़कन की आवाज को सुनने लगा.

उसके लिए ये सब अनुभव नए थे. वो नया खिलाडी था इसलिए खुद ही कभी हिम्मत दिखाता और कभी कमजोर गिर जाता. दोहरे परेशानी में उसको काव्या का बदन आत्मविशवास की शक्ति प्रदान कर रहा था. उसने काव्या के बदन से लिपटे हुए बहुत ज्यादा आनन्द प्राप्त हुआ. शायद ये बड़ा फर्क था सुलेमान और रफीक में. सुलेमान ने कभी किसी औरत को ऐसी नज़र से नहीं देखा था वो सिर्फ उनको चखना चाहता था. वहि रफीक उसका अराम से स्वाद लेना चाहता था. सुलेमान को काव्या एक रंडी की तरह लगती थी जिसको वो अपने निचे सुलाके उसको अपने लंड से तडपाना चाहता था ठीक जैसे वो सलमा को चोद रहा था, रगड़ रहा था. पर रफीक एक नवयुवक था उसके दिल में प्रेम के भाव जाग रहे थे. काव्या उसको किसी गुडिया की तरह लग रही थी. जिसके वो बाल बनाना चाहता था, श्रृंगार कराना चाहता था, उसको नेह्लाके उसको कपडे पह्नाके एक दम दुल्हन की तरह सजा धजा के प्यार करना चाहता था. उसके साथ मनपसंद भोजन करना चाहता था, खेलना चाहता था. उसको लिपट के सोना चाहता था. गहरी नींद में सोयी हुयी काव्या उसको उस मादक और खुबसूरत सेक्स डॉल की तरह लग रहि थी जिसके साथ वो अपनी हर तमन्ना पूरी कर सके.
अपने मन में प्रेम के असीम भाव जगाकर रफिक को बहुत सुकून मिल रहा था. उसके अंतर्मन में प्रेम के उच्त्तम भाव जग रहे थे. उसके लिए काव्या उस वक़्त सबसे नाजुक सुंदरी थी और उसके लिए बस उसको संभाल के रखना ही मानो जिम्मेवारी थी. ब्यूटी एंड बीस्ट के माफिक एक नाजुक रिश्ता उमढ रहा था. किन्तु मनुष्य को ये पता ही नहीं चलता के कब वो प्रेम के इस कोमल भाव से वासना के सख्त भाव पे परिवर्तित हो जाता हैं. प्रेम जहा राफिक को काव्या से ऊर्जा दे रहा था वहि वासना अब उसको उसी उर्जा से उकसा रही थी. और हुआ यही रफीक ने अपने आखे खोली और उसकी नज़रे काव्या की जान्घो पे फिर से आ गयी. काव्या सोयी भी ऐसी थी के उसके अंतरपटल साफ़ दिख रहे थे. जो रफीक के प्रेम का मजाक उड़ा रहे थे. उसकी हालात ऐसी हो गयी थी के मानो किसी भूके के सामने चिकन तंदूर रखा हो और उस दिन उपवास आ जाये. खैर काव्या की सुन्दरता और मादकता के सामने एक बार फिर उसने घुटने टेक दिए और उसने उस भूके इंसान के तरह अपना हाथ बड़ी निडरता से काव्या की जांघो की और फिर से मोड़ दिया.

बहुत धीरे से उसने उसका पेटीकोट और ऊपर की और ढकेला. उसकी धड़कने तेज़ हो गयि थी. फिर भी उसका तना हुआ लिंग उसको धीरज दे रहा था. उसका मूह और उसकी आखे जाने कितने समय से खुली थी. पेटीकोट पूरा ऊपर हो गया था उसकी मेहनत को फल मिल गया. काव्या की पूरी पयांटी उसके आँखो के सामने थी. गोरी दूध जैसे जांघो में उसकी ब्रांडेड निकर उसके खूबसरती को चार चाँद लगा रही थी. किसी सेक्सी मॉडल की तरह वो उस समय प्रतित हो रही थी. इतने सुडोल पैर, जांघे और निकर में उभरी हुई चूत देखके रफीक की तो किस्मत सवार गयी. पोर्न फिल्मो में उसने अभी तक ऐसे दृश्य देखे थे. आज बड़ा ही वो खुदको किस्मतवाला समझ रहा था. उसको छूने की लालसा जाग रही थी. कामूक किताबे. पिक्चरे देख के उसका मन हर उस बात से अवगत था जो पूर्ण रूप से आनंद दान दे सके.
Reply
07-20-2020, 01:20 PM,
#19
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा


उसने उसी पोर्न फिल की तरह बहुत धीरे से अपने दोनों हाथ काव्या के पैरो के बाजु में रखे. और खुदको को झुकाके उसके जांघो की तरफ मूह ले लिया. बहुत ही धीरे धीरे वो ये सब किये जा रहा था. काव्या की जांघो से आती हुयी मादक खुशबू उसको करीब से सुंघनी थी. उसने ठीक वैसा ही किया अपनी नाक को उसके बड़ी कुशलता से उसके गद्देदार जांघो से सटा दिया.

“आह...रंडी....मेरा निकल रहा हैं...आह..”

वहां सुलेमान अब अपनी चरम सीमा पे खड़ा था. उसका लंड अब सलमा की चूत खा के तृप्त होने जा रहा था. सलमा जो बस कुछ ही पल के पहले अपना पानी छोड़ गयी थी. उसको भी ये अंदाजालग गया के सुलेमान अपनी पिचकारी कभि भी छोड़ सकता हैं. लेकिन उस भोली कमसिन को ये नहीं समझ रहा था के वो लंड और अन्दर की तरफ क्यों सरका रहा हैं. तभी सुलेमान अपने आखरी धक्के देते हुए बोल पड़ा,

”आह...मेरी रंडी..बोल हमारी मदत करेगी न...”

“किस बात में भड़वे...आह..”

लंड और चूत के अन्दर की और घुसाते वो बोला, “कल तू उस डोक्टोरनी से मिलने जाएगी,,आह...और..और उसको मेरे घर तक लाएगी..”

“आह,...तेरे पाप में मुझे क्यों मिला रहा हैं...नहीं करती मैं ऐसा कुछ...”

“रंडी..तेरी क्या जा रही हैं....आह...इतना नहीं कर सकती क्या ...लंड तो ले रही हैं गपा गप...”

“नही...आह...म्म...नहीं करुँगी...क्या करेगा तु...कमीने....”, गुस्से से और कसमसाते हुए सलमा ने जवाब दिया.

“साली तू ऐसी नहीं मानेगी..रुक तेरा इन्तेजाम हैं मेरे पास..”

ऐसा बोलकर सुलेमान ने सलमा को जोर से अपनी बाहों में भींच लिया और उसके होठो को अपने होठो में कैद कर डाला. उसकी पकड़ इतनी मजबूत थी के सलमा हिल भी नही पा रही थी. उसका नाक उसकी नाक से साँसे चुरा रहा था. होठ उसके होठो की गिरफ्त में थे. बड़े कस के वो उस्को चूस रहा था. अपना बदन फेविकोल की तरह चिपकाके दोनों भी पसीने से एकदम लदबद खाट पे पड़े थे. वैसे ही अंग से अंग रगडके सुलेमान ने वो किआ जो सलमाने कभी सोचा ही नहीं था. उसने सलमा के चूत में अन्दर तक घुसे अपने लंड से वीर्य की धार सर्रर्रर्र ... बोलके छोड़ डी.

उसका लिंग आधे घंटे से फुला हुआ था. मुसल लंड सलमा की चूत में ही अपना वीर्य थूक रहा था. एक बड़ी पिचकारी ऐसे निकली के वो सलमा के बच्चेदानी पे जा कर ही रुक गयी. गरम गरम लावा उसको महसूस हुआ. सलमा ने भी आह निकली, “हाअय्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य्य...हाआआआआआआ..गयीईईईई
ईईईईईईईईईईईईईईईईए....मीईईईईईईई,,,,हाआआआअ..कमीने.....कुत्ते”

पहली बार किसी ने कमसिन के चूत के अन्दर अपना पानी छोड़ा था. सलमा उस वक़्त सब चीजो से परे हो गयी. उसकी आवाज भी कमजोर गिरने लगी और उसकी आँखे संतुष्टि से बंद हो गयी और साथ ही नये अनुभव में उसका अंतर्मन लीन हो गया.

“आः.......रंडी.......ले साली.....आह...काव्या....”

सुलेमान वैसे हो दबोच के सलमा के चूत में अपने लंड की पिचकारी छोड़े जा रहा था. कुछ समय के बाद उसके लंड ने पिचकारी बंद कर दी. सलमा की चूत से उसका वीर्य निचे सर्र होक टपक रहा था. दोनों निढाल हो पड़े थे. सुलेमान वैसे ही उसके बदन पर चिपके हुए ढेर हो गया. काव्या का नाम अंतिम क्षण में लेके जैसे उसने आने वाले समय के संकेत दिए. पसीना शराब और वीर्य तीनो की खुशबू से झोपडी का समा रंगीन हो गया था. सत्तू बाजु में ही शराब में चूर अपना लंड हाथ में लिए अभी भी इंतज़ार में लगा हुआ था. शायद उसको आज इंतज़ार से ज्यादा कुछ नहीं मिलने वाला था. तभी मौसम ने भी रुख बदल दिया. शाम होने को थी गाँव क बादलो ने भी इस नज़ारे पे करवट बदल दी. आसमान में बादल आने लगे. और हलकी सी बूंदा बंदी शुरू हो गयी.
Reply

07-20-2020, 01:20 PM,
#20
RE: Indian Sex Stories गाँव की डॉक्टर साहिबा
बस फिर क्या? अब वो उसके वश में हो गया था. उसने अपनी हिम्मत बढाई और दायने हाथ की उँगलियों से काव्या की प्यांति को एक तरफ से उठा लिया और बाए हाथ से उसको बहुतही हल्का सा महसूस किया. प्यांति बाजु में करने के कारन काव्या की चूत पूरी बाहर आ गयी. कुछ भी हो आज काव्या की चूत का दर्शन बार बार मिल रहा था. कुछ घंटो के पहले ही झाड़ियो में उसकी चूत ने अपना पेशाब छोड़ा था तब सब ने उसका नयनसुख लिया. और अब तो इतने करीब से कोई उसके साथ अपनी उँगलियों से खेल रहा था. वक़्त इतना तेज़ी से करवट बदलेगा ये तो काव्या की खुबसूरत चूत को भी पता चल गया होगा.

रफीक ने एक टक से उसकी चूत पे नजर डाली. उसका लंड तो मानो चीख रहा था, कबका कच्छे के बाहर आकर दंगल मचा रहा था. बस उसको चाहिए था वो सुनहरा छेद जिसका मजा रफीक की आँखे उठा रही थी. रफीक थोडा नजदीक गया. उसने अपनी जुबान काव्या के अंगो पे बेहद धीरे से चलाई. बड़े कोमलता से वो उनको चाट रहा था. उसका रोम रोम उत्तेंजित हो रहा था.

उसने अपनी नाक काव्या के योनी पे टिकाई. उसकी मादक खुशबू लेकर के वो और बेकाबू हो गया. उसने अपने बाये हाथ की बिच वाली ऊँगली काव्या के चूत के ऊपर से नीचे की तरफ बहुत ही हलके से घुमाई. वो स्पर्श, वो एहसास, वो महक उसकी उत्तेजना को सीमा पार बढ़ा रही थी. अब प्रेम जो चरम सीमा पर था वो रफीक को अलग दुनिया में ले जा रहा था. उसी बहाव में बहते उसकी जबान उसके मूह से बाहर आ गयी. बिना कुछ देरी लगाते उसकी उँगलियों की जगह उसके जबान ने ले ली. और देहाती नवयुवक ने देखते ही देखते शहरी राजसी महिला के मखमली चूत पे अपनी जबान फिरा दी.
**************
यहाँ दूसरी और सलमा की जबान और मूह भी कहा खुले थे. सत्तु मादरजाद अपना मुसल लंड उसके मूह में दबाते जा रहा था. उसके बालों को पकड़ के वो लंड को पूरी तकाद से उसके मूह के अन्दर बाहर कर रहा था.

“आह...रंडी...सलमा....चूस....रंडी...”

उम..उ...ऊउम्मम्म...की आवाज के अलावा सलमा के पास कोई शब्द नहीं थे. मुसल लंड उसके मूह चोदे जा रह था. उसकी चीखे आवाज सब दब रही थी. ऊपर से सुलेमान का सांड जैसा बदन उसके ऊपर कहर बरसाके सो गया था.

गल्प गल्प.....कर कर के सलमा का मूह को अछि तरह चोद के सत्तू अपनी प्यास बुझा रहा था. उसने अपने एक हाथ से सलमा के दूध के ऊपर की घुंडी को चिकोटी काट ली.

“आई.....हाई.....चूस रंडी....जोर लगा..:”

सालमाँ की आँखों से पानी टपक गया. वो पानी रोने का नहीं था बस एक मीठा सा दर्द था. जो अब उसको सहने की आदत लग गयी थी. लंड का पसीना, खोली में शराब का असर उसका गला सुखा रही थी. बस राहत थी तो बाहर से आती हुई ठंडी हवा और मीट्टी की खुशबु. उसके मूह से निकलती थूक से सत्तू का लंड पूरा का पूरा भीग गया था. सलमा को भी ये पता था के दोनों कलुटो से पीछा छूडाना हैं तो उसको खुद खेल में उतरना ही होगा. ठीक जैसे सुलेमान के साथ उसने अपना सहयोग दिखाया. उसने वक़्त ना गवाते ठीक उसी समय अपने बाय हात मे सत्तू का लंड पकड़ा और मूह के अन्दर चलने दिया.

सत्तू ये देख के बहुत खुश हुआ और बोल पड़ा..”आज पक्की रंडी बन गयी हो सलमा...आः...मजा आ गया तुमको ऐसा देखके.,,...मेरी रंडी...चूस और चूस...“

वासना भी अजीबी होती हैं. हर वो शरीर का पुर्जा जो इसमें जुट जाए वो पूरी तरह से उसके आधीन हो जाता हैं. एक तरफ एक लंड और एक तरफ एक चूत दोनों को भी बड़ी तबियत से चूसा जा रहा था.
*************************
रफीक जो बेकाबू बन गया था उसने अपने होठ काव्या के चूत को लगा दिए. उसको कुछ खारा और मीठा मिक्स स्वाद आने लगा. वो बस उसको और चखना चाहता था. उसने बेकाबू में अपनी जीभ को थोडा अन्दर की और सरकाया..और काव्या के मूह से पहली बार सिसक निकल गयी....स्स्सीईईई.......

रफीक की मानो साँसे रुक गयी. वो वैसे ही प्यांति को पकड़ के जुबान अन्दर डालके अटक गया. बिलकुल किसी मूर्ति के माफिक. पर काव्या ने जो बडबडाया उसको देख के उसने चैन की सांस छोड़ी..

“ऊओम्म्म......रमण,,,,लव मी,...बेबी.....”

काव्या नींद में रमण के ख्वाब देख रही थी. उसके योनी में लगी आग उसके नींद को भड़का रही थी. उसका दीमाग समझ रहा था के वो पति रमण के साथ हैं और रमण उसको प्यार कर रहा हैं. खैर रमण की याद में खोयी काव्या को सपनो में देख रफीक को समझ गया वो अभी भी नींद में ही हैं. उसने अपना ध्यान फिर से काव्या की चूत पे ले लिया पर अपने नज़रे काव्या के चेहरे पे ही रखी.

अपना दबाव उसने बड़ी आहिस्ते से काव्या के चूत पे बढ़ाया. उसको अपनी जीभ से वो चाट रहा था. बहुत ही नाजुकता से और धीरे से वो ये सब कर रहा था. उसको हर वो सिन याद रहा था जिस पोर्न में वो लड़का उस महिला की योनी में अपन मूह दबाता हैं, उसको चाटता हैं. उसी तरह से वो कर रहा था.उसने मूह ऊपर किया और अपना थूक काव्या के योनी पे बड़े तरीके से थूक दिया. काव्य की चूत उससे लदबद भर गयी. बस फिर क्या उसने उसके चूत के समुन्दर में अपना मूहसे एक छलाग लागा दी. और जीभ को अन्दर की और सरकाने का प्रयास शुरू रखा.

यहाँ वो चाट रहा था वह काव्या सिसक रही थी काव्या की हर सिसक की तरफ ध्यान डे के वो सब कर रहा था. वही दूसरी तरफ सलमा जो के सत्तू का लंड चूस रही थी. जैसे सब तरफ वासना ने अपनि बाजी चलायी थी फरक था तो किसिकी आँखे खुली थी किसीकी बंद. कोई जाग रहा था तो कोई नींद में था.
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Raj Sharma Stories जलती चट्टान desiaks 72 6,510 Yesterday, 01:29 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा sexstories 87 521,078 08-12-2020, 12:49 AM
Last Post: desiaks
Star Incest Kahani उस प्यार की तलाश में sexstories 84 181,559 08-10-2020, 11:46 AM
Last Post: AK4006970
  स्कूल में मस्ती-२ सेक्स कहानियाँ desiaks 1 12,820 08-09-2020, 02:37 PM
Last Post: sonam2006
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा desiaks 18 48,000 08-09-2020, 02:19 PM
Last Post: sonam2006
Star Chodan Kahani रिक्शेवाले सब कमीने sexstories 15 67,901 08-09-2020, 02:16 PM
Last Post: sonam2006
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी desiaks 3 40,729 08-09-2020, 02:14 PM
Last Post: sonam2006
  पारिवारिक चुदाई की कहानी Sonaligupta678 20 182,402 08-09-2020, 02:06 PM
Last Post: sonam2006
Lightbulb Hindi Chudai Kahani मेरी चालू बीवी desiaks 204 38,038 08-08-2020, 02:00 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर sexstories 89 168,844 08-08-2020, 07:12 AM
Last Post: Romanreign1



Users browsing this thread: 5 Guest(s)