Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
06-24-2022, 08:55 AM,
#21
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
अंतरंग हमसफ़र भाग 20

मेरे अंतरंग हमसफ़र

द्वितीय अध्याय

परिवार से मेलजोल

भाग -12

कुंवारी फूफेरी बहन की धुआंधार चुदाई


फिर मैं आगे कहानी सुनाते हुए बोला प्रीती, मैं बस अलका के कौमार्य को भंग करने ही वाला थाl

अलका ने अपनी आँखें बंद कर लीं क्योंकि मेरी उंगली उसकी पवित्रता में घुस गई थी। उसने दर्द से मिला जुला आनंद अनुभव किया जिससे वह अभी तक परिचित नहीं थी। उसने मुझे और जोश में चूमा अब मेरी ऊँगली धीरे-धीरे उसकी योनि में आगे पीछे होने लगी और हरेक बार पहले से अधिक गहरी जा रही थी। अलका ने मेरे होठों को चूसते हुए मेरा सिर अपने हाथों से पकड़ लिया। उसका शरीर फिर से वासना और उत्तेजना से तपने लगा।

मेरा लंड भी खड़ा हो कर मेरे हाथ के पीछे तब टकराया जब मेरी उंगलिया उसकी योनि की मालिश कर रही थी और फिर लंड महाराज ने आगे बढ़कर अपनी प्रेमिका अलका की चूत को रगड़ दिया। इस दोतरफा ऊँगली और लंड के एकसाथ हुए हमले से अलका एकदम उचक गयीl

मैं धीरे से अलका को पलट कर उसकी पीठ पर लिटा दिया और उसे अधिक आक्रामक तरीके से चूमा। इससे अलका के मम्मे मुझे और भी साफ साफ दिख रहे थेl. मेरे लंड का बुरा हाल थाl मैं धीरे धीरे उनके मम्मों के ऊपर हाथ घुमाने लगा।

फिर मैं उसके निप्पल मसलने लगा और मैं कभी इस तरफ की चूची को दबाता, कभी उस तरफ की चूची को मींजताl मैं उसकी घुंडियों को काफी देर तक मसलता रहाl

थोड़ी देर बाद चाची के मुँह से सिसकारियां निकलने लगींl अब मैं समझ गया कि चाची भी कामवासना से गरम हो चुकी हैं और मैंने मौका ना गँवाते हुए उसके होंठों को चूम लिया और फिर ऊपर वाले लिप को अपने होंठों में लेकर चूसने लगा l

फिर मैंने मम्मों को छोड़कर उसको अपनी बांहों में जकड़ लिया और उसको लगातार पागलों की तरह किस करने लगाl वो भी कामुक सिसकियाँ लेते हुए आहें भरने लगींl

वो मेरे बालों पर अपने हाथ फेर रही थींl मैं धीरे धीरे नीचे आकर उसके पेट को चूमने लगाl फिर मैं उसकी नाभि पर आयाl अब मैंने उसका एक हाथ अपने लंड पर रख दिया, जिसे वो सहलाने लगींl

मैंने अपने हाथों पर अपने वज़न का संभाला तो अलका की चूत पर मेरा कठोर लंड महसूस किया।

हमने एक-दूसरे को देखा, दोनों एक ही बात सोच रहे थे, दोनों की समान इच्छाएँ थीं और दोनों एक साथ एक ही लक्ष की तरफ़ बढ़ रहे थे।

ऐसा करने से मेरा लंड उत्तेजना की ताज़ा स्थिति के रूप में उठा और उसकी योनि का दरवाज़ा खटखटाने लगा। मेरी उंगलियों ने उसकी योनि की दरार को महसूस किया फिर धीरे से एक फिर दूसरी अंदर सरका दी फिर मैंने उंगलिया ऊपर नीचे की और उंगलियों की मदद से दरार की थोड़ा फैलाया l

अब वह सिसकारियाँ मारने लग गई थी। अब वह अहाह, आहहह, आहहह कर रही थी। अब उसके ऐसा करने से मेरे लंड में भी सनसनी होने लगी थी।

मैं उसके माथे फिर से चूमा, एक हाथ नीचे ले लिया और धीरे-धीरे उसकी योनि पर अपने लंड को मला, ऊपर और उसके भगनासा के नीचे। उस पर उसका रस मला और अपने लंड को अच्छी तरह से चिकना कर दिया। तत्पश्चात लंऔर लंड मुंड का अग्रभाग दुसरे हाथ से लंड की पकड़ कर दरार पर रगड़ कर अलका की चूत की छेद की द्वार पर लगा दिया l

मैंने पुछा तुम तैयार हो, मेरी प्यारी अलका?

अलका ने मुझे देखा और सिर हिलाया। वह मुझसे प्यार करती थी, उसने मुझ पर भरोसा किया और अब वह मेरी थी। उसने पहले ही मुझे अपना दिल, अपना दिमाग, अपनी आत्मा दे दी थी और अब वह अपने शरीर को मुझे सौंपने के अंतिम कगार पर थी और उसने मुझे चूम कर पूर्ण समर्पण का इशारा कर दिया l

मैंने धीरे से अपने कूल्हों को आगे बढ़ाया और लंड का सर के अंदर घुस गया। अलका ने अपनी आँखें बंद कर लीं सुख और दर्द में मिलेजुले एहसास उसके होश उड़ गए। आह! ओह!

लेकिन चूत बहुत टाइट थी और आराम से अंदर जा नहीं रहा था, मेरे लिए भी रुकना मुश्किल हो रहा था। फिर मैंने एक कस कर ज़ोर लगाया और लैंड दो इंच अंदर चला गया। अलका चीखने चिलाने लगी । हाअ, दीदीपककक्क! आईसीईई, आआआआ और ज़ोर से, उउउईईईई माँ, आहहहाँ!

आआहहl l उह्ह्ह ह्ह हाँl आईईईl प्लीज आहl l मैं बस तुम्हारी हूँl l हाँ और उह्ह्ह्ह l उह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हl

वो अपने अन्दर उस गहरायी में हो रहे उस अनुभव को लेकर बहुत आश्चर्यकित थीl

यहाँ तक की वोह मेरे लिंग को अपनी योनी के दीवारों पर महसूस कर रही थी। एक बार फिर मैं पीछे हटा और फिर अन्दर की ओर दवाब दिया। मैंने थोड़ा-सा लंड पीछे किया उठा और फिरसे धक्का दिया, लंड लगभग आधा अंदर चला गया था । मेरे लंड को अलका के योनी रस ने भिगो दिया था, जिससे वह चिकना हो गया था और आसानी से अन्दर और बाहर हो पा रहा था और अगली बार के धक्के में मैंने थोडा दवाब बड़ा दिया। अलका ने अपनी बाहें मेरे कंधे पर लपेट दी थीं और अपने नितम्बो को ऊपर कि ओर उठा दिया। अन्दर अवरोध महसूस होने लगा था। लंड झिल्ली तक पहुँच अलका की हायमन से टकरा रहा था और जब उसने उसे भेदकर आगे बढ़ना चाहा तो अलका ज़ोर से चिलाने लगी कि आह! बहुत दर्द हो रहा है मैं मर जाउंगीl

मैंने पूरी ताकत के एक धका लगा दिया "ओह माँ" अलका के मुह से निकला। उसके स्तन ऊपर की ओर उठ गए और शरीर एंठन में आ गया जैसे ही मेरा गर्म, आकार में बड़ा लिंग पूरी तरह से गीली हो चुकी कुंवारेपन की झिल्ली चीरता योनी को भेद कर अंदर घुस गया l लिंग अन्दर और अन्दर चला गया था। अलका भी योनी के अंदर मेरे लिंग के सम्पूर्ण स्पर्श को पाकर व्याकुलता से पगला गयी थीl उधर मेरे हिप्स भी कड़े होकर दवाब दे रहे थे और लिंग अन्दर जा चूका था l

वो दर्द के मारे चिलाने लगी आहहहहह! दीपक उउउउउइइइइइइ! ओह्ह्ह्हह! बहुत दर्द हो रहा है प्लीज बहुत दर्द हो रहा है मैं दर्द से मर जाऊँगी l अलका की चूत बहुत टाइट थी मैंने उसकी चूत की तीव्र गर्मी महसूस की जिसने मेरे लंड की जकड़ लिया था। मैंने अलका को इस आक्रमण के बाद में समायोजित होने के लिए समय दिया और उसकी श्वास के सामान्य होने तक उसे आराम दिया। कुछ देर बाद उसने अपने कूल्हों को ऊपर की और उठा दिया तो मैंने धीरे-धीरे अपना पूरा 8 इंच अन्दर तक उसमें सरका दीया। उसकी चूत बहुत कसी हुई थी और उसने लंड की जकड़ लिया था और जब भी मैं लंड की आगे को धक्का लगाता था तो उसकी कराहने की आवाज़ मेरे कानो से टकरा रही थीl

आआहहl l उह्ह्ह्ह ह्ह्ह्हl

अलका ने मुझे अपनी बाहों में मजबूती से पकड़ लिया और मुझ में से ऐसे लिपट गयी जैसे मुझ में समा जाना चाहती हो। उसने ख़ुद को मुझे दे दिया था। उसका शरीर अब मेरा था और जैसे ही मैंने अपने शरीर को उसके ऊपर रखा, भावनाओं का एक प्रवाह ने अलका बह गयी। उस पल की तीव्रता ने उसे अभिभूत कर दिया था और उसके आँसू उसके गालो पर बहने लगे। मैंने अपना वज़न उसके ऊपर से उठाया। उसने अपनी आंसुओं से भीगी हुई आँखों को खोल कर मुझे देखा। मैंने उसके सिर को चूमा और फिर उसकी आँखों को चूमा, उसके आंसू को अपने ओंठो से पि गया।

उस पल में, अलका की सभी चिंताओं, डर और दर्द को गायब हो गए और उसे अपने जीवन की सार्वभौमिक सच्चाई का एहसास हुआ। मैंने सही मायने में उसे पूरा कर दिया था।

उसने मेरे चेहरे को पकड़ा और मेरे होठों को नम्रता से चूमा और मैंने धीरे-धीरे अपने कूल्हों को आगे और पीछे ले जाना शुरू कर दिया। मैंने धीरे से लंड वापस खींचा और अपना लंड फिर से अंदर सरका दिया। अलका साँसे धीरे-धीरे निगलने लगी क्योंकि मेरे लंड के सुख ने उसके होश उड़ा दिए थे। उसकी चूत बहुत गीली हो चुकी थी और जैसे ही मैंने पंप करना शुरू किया, मैंने देखा मेरे लंड चारों तरफ़ से उसके मिश्रित लाल तरल पदार्थों में भीगा हुआ था।

मैंने देखा और महसूस किया कि मेरा लंड अब पहले से आसानी से अलका की चूत में घुस रहा था। पर उसकी चुत बहुत टाइट थी। । जैसे-जैसे मैंने अपनी गति बढ़ायी, अलका को ख़ुशी उसके मुख से निकलने वाली आनंद भरी आवाजों से साफ़ पता लग रही थी। मैंने चूचियों को चूसा और चूसा और मैं देख सकता था कि वह मूड में है। वह अपनी चूत को ऊपर की तरफ़ उठा रही थी।

मुझे लग रहा था उसकी चुत संकुचन कर रही थी और मेरे हर धक्के के साथ महसूस कर रहा था की जैसे उसकी चुत मेरे लंड को चूस रही हो। उन्होंने ख़ुद को अपने हाथ से आगे बढ़ाया और अपनी लय जारी रखी। अलका ने समर्थन के लिए मेरी बाहों को पकड़ रखा था और मेरे हर धक्के का साथ उसने अपने कूल्हों को ऊपर उठा कर दिया। जिससे हमारे जिस्मो के निचले हिस्से का मिलन हवा में होता था। मैंने उसके स्तन की मालिश करने के लिए एक हाथ का उपयोग किया और उसके निप्पल को चुटकी में लिया और महसूस किया कि उसकी चूत मेरे लंड को ज़ोर से चूसने लगती। मैंने अपने सिर को नीचे किया और उसकी गर्दन को चूम लिया।

अब अलका कामुक उन्माद में थी। उसके हाथ मेरे नितम्बो पर चले गए और उसने अपने नितम्ब नीचे दबा दिए। साथ-साथ उसने अपने पैरों को यथासंभव फैला दिया और अपने नितंबों को पूरा ऊपर उठा कर मेरे धक्के की ले में मिला दिए। हर बार जब हमारी पैल्विक हड्डियाँ टकराती थीं तो उसने महसूस किया कि उनके संभोग की कठिन और तेज लहर आने वाली थी।

"ओह, मत रोको, मुझे कुछ हो रहा है।" वह हांफने लगी

मैंने अपनी लय और गति को जारी रखा अलका ख़ुशी से चीख पड़ी और अपने पैरों को मेरे चारों ओर लपेटकर मुझे अपनी और खींच लिया। उसने अपनी चूत को मेरे लंड पर धकेल दिया और अपने कामोन्माद की लहर में अपनी चूत को मेरे लंड के चारो और घुमाया और अपने चरमोत्कर्ष पर पहुँच गयी। मैंने उसकी गांड पकड़कर अपनी स्पीड बढ़ा दी, उसका जिस्म एक बार फिर काम्पा, कुछ देर के बाद वह पहले से बहुत अधिक तीव्रता से झड़ गई। ।

"हे भगवान!" कहते हुए उसके पेअर पहले अकड़े फिर ढीले पड़ गए और उसने मुझे उसके ऊपर खींच मुझ से कस कर लिपट गयी और मेरे कान में फुसफुसायी "आई लव यू"।

उसके चेहरे पर संतुष्टि के भाव देख कर मैं अब दुनिया के शीर्ष पर था। निरंतर लगातार तेज पंपिंग के कारण अब मेरे अंडकोषों में भी दबाब बढ़ने से दर्द होने लगा था। मैंने फिर से गति पकड़ी और इस बार सभी सज्जनता भूल गया। अब मुझे भी अपनी संतुष्टि की आवश्यकता थी। मैंने अलका के पैरों को उठाया और उन्हें अपनी छाती पर रखा और हर जोरदार धक्के के साथ योनि के अंदर गहरी पैठ बनाने लगा। फिर मैंने अलका के घुटनो को पीछे धकेल दिया, जीसे उसके घुटने उसके स्तनों को छू रहे थे और अलका महसूस कर सकती थी कि मेरा लंड उसकी गहराइयों को छू रहा है। उसने मेरे लंड को अपनी पूरी गहराईयो में और भी अच्छे से महसूस किया और जान गई कि मैं भी फटने की कगार पर हूँ।

मेरे अंडकोषों पर पड़ रहे दबाब को अनुभव करते हुए, मैंने अपने धक्को की गति को बढ़ा दिया और कमरे में हमारे सेक्स की आवाज़ें गूंज रही थीं। दोनों जोश में उबल रहे थे। शुद्ध कच्ची वासना और कामिच्छा इच्छा से मेरी एक गहरी मर्दाना कराह निकली और मेरे लंड ने उसकी योनि में अपना लावा उगल दिया।

अलका ने महसूस किया कि मैंने लावे से उसकी गर्भाशय को नहला दिया हो और वह शुद्ध कामुकता में कराहने लगी। मैं बिना रुके लगातार पंप करता रहा मुझे लगा मेरे अंडकोषो ने कई बार लावा उगला और लगा जैसे खाली हो गए हो। उसके बाद मुझे मेरे अंडकोष एकदम हलके महसूस होने लगे।

और अंतिम प्रयास से अपनी छाती के पसीने के साथ उसके ऊपर गिर गया।

जब मेरी उखड़ी हुई साँसे कुछ सामान्य हो गयी और धीरे से लंड को बाहर निकाला। मैं बिस्तर पर लेट गया और अलका को अपनी बाहों में खींच लिया। उसे चूमा, हम दोनों ने बस एक-दूसरे को अपने प्यार में पकड़े रखा और धीरे-धीरे सोते हुए सो गए तभी एक नरम आवाज़ ने हमारे पहले मिलन की तन्द्रा को तोडाl

वो आवाज़ किसकी थी? और उसने क्या कहा ये कहानी के अगले भाग मेंl

आगे क्या हुआ -- ये कहानी जारी रहेगीl

आपका दीपक

द्वितीय अध्याय
Reply



Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Na school lo jarigina idaru amayilani balavantanga anubavinchina teachers and nenu 3 Kalyani.siri 0 471 10-02-2022, 04:32 AM
Last Post: Kalyani.siri
  Meri bibi ke chudai ne full stories Devilian saha 175 47,980 09-23-2022, 09:53 PM
Last Post: Devilian saha
  Ye kaisa sanjog sexstories 14 53,831 09-02-2022, 06:56 PM
Last Post: lovelylover
Information Sassy Poonam viral MMS Rakeshmr 0 6,461 08-07-2022, 05:29 PM
Last Post: Rakeshmr
  बिना शादी के सुहागरात ! sakshiroy123 1 35,285 07-06-2022, 02:50 PM
Last Post: fuqay
  खाला की चुदाई के बाद आपा का हलाला aamirhydkhan 45 114,115 06-24-2022, 09:06 AM
Last Post: aamirhydkhan
  पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे deeppreeti 65 189,530 06-24-2022, 09:02 AM
Last Post: aamirhydkhan
  My Memoirs – 1. Reema George Abhimanyu69 1 10,403 04-30-2022, 10:37 AM
Last Post: solarwind
  Gulnaaz kumarsiddhant268 3 7,580 04-30-2022, 10:36 AM
Last Post: solarwind
  Mere Haseenaye. Rohan45 3 7,531 04-30-2022, 10:33 AM
Last Post: solarwind



Users browsing this thread: 2 Guest(s)