kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
03-22-2020, 01:39 PM,
#31
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
कुमुद ने असहायता दिखते हुए कहा, "ठीक है… तुम मेरे पति और स्वामी हो। तुम्हारी बात तो माननी ही पड़ेगी।" कुमुद ने जल्दी ही सिर्फ नाइट गाउन पहना और अंदर कुछ नहीं पहना।

कमल ने भी फुर्ती से अपने कपडे बदले और कुर्ता पजामा पहन कर तैयार हुआ और तैयार होते ही कमल ने अपनी बीबी कुमुद का हाथ पकड़ा और राज के बैडरूम की और चल पड़ा।

राज के साथ रानी अपने कपडे बदल कर सफ़ेद नाइट गाउन पहन कर आ रही थी। रानी का गाउन महिम कॉटन का था। शायद राज ने भी रानी को अन्तर्वस्त्र (यानी पेंटी और ब्रा) पहनने से रोका था जिसके कारण हवा का एक झोंका और पीछे से आती प्रकाश की किरणें रानी के गाउन में से उसके कमसिन नंगे बदन की आकृति की साफ़ साफ़ झांकी दे रही थीं। दोनों टांगो को एक दूसरे से दबाती हुई चलती रानी दो सुआकार जाँघों के बिच सिकुड़ी हुई अपनी खूबसूरत चूत को दूसरों की नजरों से छुपाने का नाकाम प्रयास कर रही थी। बड़ी ही सहमी सहमी धीरी चाल से चलती हुई रानी सफ़ेद परी के सामान दिख रही थी। रानी की चाल से थिरकते हुए उसके उन्नत उरोज और मटकती हुई उस की गाँड़ देखते ही बनती थी। कुमुद ने देखा की बड़ी मुश्किल से उसके पति कमल ने अपनी नजर रानी के कमसिन बदन से हटाई।

कुमुद ने सोचा बेचारे उसके पति का क्या दोष? ऐसी खूबसूरत और सेक्सी स्त्री को देखकर कुमुद का खुद का मन भी तो रानी को बाहों में लेने को मचल रहा था।

कमल और कुमुद के पहुँचते ही राज ने कहा, "भैया, आज हम चारों मिलकर खुल्लम खुल्ला बाते करते हैं और सारी समस्यायों का समाधान करते हैं। इसलिए मेरा सुझाव है की आज की रात एक साथ गुजारेंगे। बल्कि हम दूसरा एक पलंग ले आते हैं और दोनों पलंग एकसाथ कर देते हैं। फिर पूरी रात सोते रहेंगे, बाते करते रहेंगे। बोलो भैया ठीक है?"

कमल ने कहा, "राज दूसरे पलंग की क्या जरुरत है? हम चारों तो एक ही पलंग में भी समा सकते हैं।"

कुमुद और रानी एकदूसरे को चुपचाप देखते ही रहे। राज ने कमल को इशारा किया और कमल और राज दोनों ने मिलकर दूसरे बैडरूम में से एक पलंग उठाया और उसे लाकर राज और रानी के पलंग के साथ जोड़ दिया।

पलँगो के जुड़ते ही, राज ने जैसे सुहाग रात में पति पत्नी को अपनी शैय्या पर ले जाता है, ऐसे ही अपनी पत्नी रानी को बाहों में उठाकर अपने पलंग पर कोने में ले जा बैठा और रानी को अपनी गोद में बिठा दिया।

कुमुद सेहमी सी एक कोने में खड़ी बिना बोले दोनों मर्दों की करतूतें देख रही थी। कमल मूड़ा और अपनी पत्नी कुमुद को भी अपनी बाहों में ऊपर उठा कर दूसरे पलंग के पास जा पहुंचा।

जब राज और रानी ने कमल को अपनी पत्नी कुमुद को अपनी बाहों में उठाकर लाते हुए देखा तो राज बोल पड़ा, "आज कुमुद भाभी की खैर नहीं। लगता है कमल भैया बड़े मूड में हैं।"

कमल ने अपनी पत्नी कुमुद को धीरे से पलंग पर लिटाते हुए कहा, "देखो राज, सच तो यह है की मैं मेरी प्यारी कुमुद के बिना कई दिनों से अलग रहा। आज तुम्हारे कारण मुझे मेरी प्यारी के साथ सोने का मौक़ा मिला है तो मैं उसे खोना नहीं चाहता।"

कमल अपनी बात खतम करे उससे पहले ही राज बोल पड़ा, "सोने का मौक़ा या फिर कुछ और करने का मौक़ा? भैया साफ़ साफ़ क्यों नहीं बोलते?"
Reply

03-22-2020, 01:40 PM,
#32
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
कमल राज की और खिसियानी नजर से देख कर बोला, "हाँ भाई। मैं जानता हूँ तू क्या कहना चाहता है। अब हमें खुल्लम खुल्ला शब्दों में बात करनी है, तू यही कहना चाहता है ना? तेरी बात भी ठीक है। चल तो मैं कह ही देता हूँ की आज मैं मेरी बीबी को चोदने का मौक़ा खोना नहीं चाहता। बस? अब तो खुश?"


कमल की बात सुन कर रानी और कुमुद एक दूसरे को देखने लगे। कुछ दिन पहले तक अपने पति को छोड़ कभी भी रानी ने ऐसे शब्द और किसी से नहीं सुने थे। हाँ, यह सही था की रानी कमल से 'चोदना' शब्द पहले सुन चुकी थी पर वह उन दोनों के बिच की टेलीफोन पर हुई एक निजी बात थी। पर अब तो कमल सबके सामने खुल्लम खुल्ला "चोदना" शब्द का प्रयोग कर रहा था। कमल से सब के सामने "चोदना" शब्द सुन कर शर्म के मारे रानी के गाल लाल होगये।


कुमुद ने अपने पति के गाल पर चूंटी भरते हुए कहा, "यह क्या बक रहे हो? चुप करो। अरे तुम लोग शर्म करो। देखो मेरी छोटी बहन रानी कितना शर्मा रही है? वैसे अब सोने का टाइम भी होगया है। चलो बत्ती बुझा लो और सब सो जाओ।"

राज ने कहा, "कुमुद सोने की इतनी जल्दी क्यों है? अभी तो रात जवान है। हमें बहुत बातें करनी है।"

कुमुद: "बातें करने के लिए कौन मना कर रहा है? पर भाई आप लोग थोड़ी सी शर्म भी तो रखो। यहां देखो मेरी बहन रानी के गाल शर्म के मारे कैसे लाल हो रहे हैं?" सब ने रानी की और देखा की वाकई रानी शर्म के मारे तारतार हो रही थी की अपने पति के सामने यह सब खुल्लम खुल्ला सब कुछ बोल रहे थे।

राज रानी की छाती पर हाथ रख कर उसके स्तनों को हलके से गाउन के उपरसे ही मसलने लगा तो कुमुद ने पलंग के एक कोने में पड़ी चद्दर उठाकर रानी और राज को ढकते हुए कहा, "राज मैं कह रही हूँ और तुम सुन नहीं रहे हो। ज़रा शर्म तो करो।"

राज ने मुस्कुराते हुए कहा, "अरे भाई, अब हमने सब की सहमति से तय किया है की हम एक दूसरे से कतई पर्दा नहीं रखेंगे। ना बोलने में, ना कुछ करने में तो फिर शर्म काहे? और जहां तक रानी का सवाल है तो भाई बड़ी बहन नहीं बचेगी तो छोटी बहन थोड़े ही छूटने वाली है? जब भैया भाभी लग पड़ेंगे तो मैं क्या मेरी बीबी को ऐसे ही छोड़ दूंगा?"

रानी शर्म के मारे अपने बदन पर चद्दर ओढ़कर अपनी नजर जमीन पर गाड़े चुप बैठ कर सब की बातें सुन रही थी।

कमल ने कुमुद को अपनी बाँहों में लेकर कुमुद के होठों पर अपने होंठ रख कर एक जोशीली फ्रेंच किस करने लगा तो कुमुद ने अपने पति को रोकते हुए कहा, "अरे यह क्या? तुम तो आते ही शुरू हो गए! ज़रा रुको तो! कमल, चुप रहो। मेरी बात तो सुनो। थोड़ी धीरज रखो। धीरज का फल मीठा होता है।"

पर कमल कहाँ सुनने वाला था। उसने कहा, "मैंने महीनों तक धीरज ही तो रखी थी। अब तो फल खाने का समय आगया है। डार्लिंग, अब मैं सिर्फ बातों से मानने वाला नहीं हूँ। तुम मुझे काफी समय के बाद मिली हो। भाई आज की रात मेरे लिए कोई सुहाग रात से कम नहीं है। आज रात मुझे कोई मत रोकना।"

कुमुद ने कहा, "तुम्हें कोई नहीं रोकेगा। वैसे भी तुम हम से रुकने वाले कहाँ हो?"
Reply
03-22-2020, 01:40 PM,
#33
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
रानी से यह सब सुन कर रहा नहीं गया और वह बोल उठी, "मैं आप सब से छोटी हूँ। अगर आप सब इजाजत दें तो मेरा एक सवाल है।" सब चुप हो कर रानी की और आश्चर्य से देखने लगे और अपना सर हिला कर सम्मति दी।

रानी ने कहा, "मैं मानती हूँ की हमें एक दूसरे से चीटिंग यानी धोखेबाजी नहीं करनी चाहिए, पर हम भारतीय नारियाँ ऐसे संस्कार में पली हैं की आसानी से अपने बदन का प्रदर्शन नहीं कर सकतीं। हम खुल्लमखुल्ला बात नहीं कर सकतीं। हमें शर्म आती है। हम अपने पति के साथ भी एकदम बिंदास होकर सेक्स नहीं कर सकतीं, कपडे नहीं उतार सकतीं, तो दूसरों के सामने की तो बात ही क्या? मेरी आप लोगों से बिनती है की हमारी मज़बूरी को भी समझियेगा। आप लोगों को हमें कुछ तो ढील देनी चाहिए।"

सब भौंचक्के हो कर एक दूसरे को देखते रहे। तब राज ने कहा, "रानी ठीक कहती है। देखिये, मैं एक बात मानता हूँ। हम सब कभी कभी थोड़ा झूठ बोल लेते हैं। हम सब कभी कभी थोड़ी सी बेईमानी भी तो करते ही हैं। जब हम स्कूल में गुल्ली मारते थे तब, घर में पिक्चर देखने या गर्ल फ्रेंड से मिलने जाना होता था तब, ताश खेलते हुए, बच्चे थे तब एडल्ट फिल्म देखने के लिए माँ बाप से , कोई ख़ास काम हो तो ऑफिस में भी झूठ बोलते थे और बोलते है। तो अगर कभी कभी हम सेक्स में भी थोड़ा झूठ बोलें तो हमें बुरा नहीं मानना चाहिए। बल्कि थोड़ी चोरी हो तो सेक्स में कुछ ज्यादा ही रोमांच आता है। हम पति पत्नी कभी थोड़ा सा भटक जाएँ या फिर थोडासा फिसल जाएँ तो हमें बातका बतंगड़ नहीं बनाना चाहिए। 'थोड़ी सी बेवफाई' तो चलती है यार। हम अगर एक दूसरे से छिपकर थोड़ा इधर उधर कुछ कर लेते हैं, एक दूसरे की बीबी से चोरी छुपी से थोड़ी ज्यादा छूट भी ले लेते हैं, तो जानते हुए भी अनजान बनने में कोई बुराई नहीं है। इसका मजा लेना चाहिए। इतना विश्वास तो हमें अपने पति या पत्नी पर रखना होगा और इतनी छूट तो हमें एक दूसरे को देनी होगी। आजकल यह सब चलता है।"

सब राज की बात को ध्यान से सुन रहे थे। राज ने कहा, "पर हाँ, हमारी वचनबद्धता हमारे पति या पत्नी में ही होनी चाहिए। अगर हमने 'थोड़ी सी बेवफाई' कर ली तो क्या होगया? हमारे पति या पत्नी हमारे जीवन का एक अटूट हिस्सा होना चाहिए, क्यूंकि हमारे भाई बहन, माँ बाप, बच्चे सब इसी सम्बन्ध पर टिके हुए हैं। इस लिए यह इमारत को कोई क्षति नहीं पहुंचनी चाहिए।"


कुमुद बोल पड़ी, "राज हमें सब कुछ खुल्लम खुल्ला बोलने की जरुरत नहीं है। पर अगर हम प्यार से खुल्लम खुल्ला बोलते हैं तो कोई हर्ज भी नहीं है। हमें जो कुछ करना है, वह खुल्लम खुल्ला करें या फिर थोड़ा छुपा कर, हमें एक दूसरे की नाजुकता और संवेदनशीलता का ध्यान रखना चाहिए। हम सब अलग अलग व्यक्तित्व रखते हैं तो स्वाभाविक है की हम सब अलग अलग तरीके से बात करेंगे, सेक्स भी अलग अलग तरीके से करेंगे। वाकई मझा तो उसी में है। थोड़ी सी बेवफाई में भी तो मज़ा आता है। याद करो, हम सब ने स्कूल या कॉलेज में किसी लड़के या लड़की से चोरी छुपके मिलना, सब की नज़रों से बच कर किस करना, नजर चुरा के चूँचियों को दबाना, मौक़ा मिलने पर कोई कोने में दो पैरों के बिच में उंगली डाल देना और कभी कभी तो और भी आगे बढ़कर सेक्स भी कर लेना, कुछ न कुछ तो किया था न? कितना मजा आता था न? पर क्या हुआ? अब हम पति पत्नी बन कर अपना अपना धर्म तो निभा रहे है न? तो चोरी छुपी हो या खुल्लम खुल्ला; जो करना है, जैसे करना है, करें; पर सोच समझ कर करें।"

कमल ने कहा, "भाई मैं भी तो यही कह रहा हूँ। विशेषता में ही एकता है। हम सब विशेषता चाहते हैं, विविधता चाहते हैं, नयी नयी चीझें आजमाना चाहते हैं। तो चलो चाहे छुप कर या फिर खुल्लम खुल्ला, चलो हम आज प्यार की नयी रीत अपनाते हैं।"

कमल की बात सुन कर रानी ने चौँक कर पूछा, "क्या मतलब है तुम्हारा कमल?"

कमल ने कहा, "बूझो तो जानूं। बस इतना कहना ही काफी है।"

तब कुमुद ने कहा, "बस बहुत हो गया। अब और कोई सीरियस बात नहीं करनीं। चलो हम कोई खेल खेलते हैं।" खेल का नाम सुनकर रानी की आँखें चमक उठीं। वह एकदम बैठ गयी और उत्सुकता से सुनने लगी की कुमुद कौनसा खेल खेलने के लिए कह रही थीं। वह समझ गयी की जो भी खेल होगा, कुछ न कुछ नया रंग लाएगा जरूर।

कमल ने कहा, "खेल क्यों? क्या खेल खेलेंगे?"

राज ने कहा, "हम एक दूसरे को हिंदी पिक्चर के बारेमें एक सवाल पूछेंगे। सवाल सरल होना चाहिए। जो जवाब दे देगा वह पास। फिर सवाल पूछने की बारी उसीकी होगी। अगर जवाब नहीं दे पाया तो फिर पूछने वाला जो सजा देगा उसे मानी पड़ेगी। बोलो मंजूर है?"
Reply
03-22-2020, 01:40 PM,
#34
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
राज ने कहा, "हम एक दूसरे को हिंदी पिक्चर के बारेमें एक सवाल पूछेंगे। सवाल सरल होना चाहिए। जो जवाब दे देगा वह पास। फिर सवाल पूछने की बारी उसीकी होगी। अगर जवाब नहीं दे पाया तो फिर पूछने वाला जो सजा देगा उसे मानी पड़ेगी। बोलो मंजूर है?"

कुमुद ने आँखें नचाते हुए कहा, "मंजूर है। मगर सजा ऐसी ना हो की हम कर ना पाएं। ठीक है?

राज ने कहा, "ठीक है।" राज ने कमल, रानी और कुमुद की और देखा। सब ने मुंडी हिला कर हामी भरी।

राज ने कहा, "सबसे पहले मैं कमल भैया से पूछूंगा की शोले पिक्चर की हेरोइन का नाम क्या था?"

कमल ने कहा, "रे यह तो सब को मालूम है। हीरोइन थी हेमामालिनी।"

राज ने कहा, "अब सवाल पूछने की बारी कमल की हुई। "

कमल ने रानी से पूछा, "बताओ, शोले पिक्चर में संगीत किसने दिया था?"

रानी सोचने लगी। उसे नहीं पता था। उसने कहा, "मुझे नहीं मालूम। "

सब ने तालियां बजायीं और कमल ने कहा, "संगीत एस डी बर्मन का था। रानी अब तुम्हें सजा मिलेगी। जाओ राज की गोद मैं बैठकर उसे करारा चुम्बन दो।"

रानी उलझन में देखती रही की राज ने रानी को अपनी बाहों में जकड लिया और बोला, "चलो भाई अब मैं ही तुम्हारा काम पूरा कर देता हूँ।" और राज और रानी एक दूसरे के बाहुपाश में बंध गए और होँठों से होँठ मिलाकर एक दूसरे को प्रगाढ़ चुम्बन करने में जुट गए।



राज और रानी को चुम्बन करते हुए देख कर कमल से रहा नहीं गया। उसने अपनी बीबी को करीब खींचा तो कुमुद भी खिसक कर कमल की बाँहों में आ गयी। इतने दिनों से पति से अलग रहने से वह भी मायूस हो गयी थी। वह समझ चुकी थी की राज जो कह रहा था की ऐसी बातों को ज्यादा तूल नहीं देना चाहिए वह सही था। कुमुद ने तय किया की अब उसके लिए अपने पति को खुश रखना बहुत जरुरी है। अपना पति थोड़ा बहुत इधर उधर भटक भी जाए फिर भी अपना होता है। अब जब इतने दिनों के बाद कमल उसे प्यार कर रहा था तो कुमुद कमल को रोकना नहीं चाहती थी।


कुमुद बोली, "मेरे पागल पति! मैं तो तुम्हारी हूँ और हमेशा रहूंगी। ना मैं तुम्हें रोकूंगी ना ही टोकूँगी, बस खुश?"

कमल ने कुमुद के होठोँ पर एक हलकी सी किस करके बोला, "डार्लिंग आज की रात हम सब मिलकर मौज करेंगे।" यह कह कर कमल ने अपनी बीबी कुमुद को पलंग पर राज और रानी के पास खिसका दिया। कमल खुद पलंग पर चढ़ कर कुमुद से चिपक कर बैठ गया। हाल यह था की एक पलंग तो खाली था और दूसरे पलंग के ऊपर दोनों युगल एक दूसरे के बदन से सट कर बैठे हुए थे। रानी अपने पति राज की बाँहों में प्रगाढ़ चुम्बन करने में व्यस्त थी।

थोड़ी देर बाद जब राज और रानी अलग हुए तो राज ने अपनी पत्नी रानी की छाती पर हाथ रखते हुए कमल से पूछा, "भैया, गरबा से क्यों जल्दी वापस आगये?"

कमल ने कुछ हिचकिचाते हुए, कहा, "गरबा में बहुत सारी सुन्दर लडकियां और औरते थीं। मेरे लिए तो हमारी दो सुन्दर बीबियाँ ही काफी हैं। मैं कन्फ्यूज़ होना नहीं चाहता था।"

कुमुद ने अपने पति कमल को चूँटी भरते हुए कहा, "झूठे कहींके। क्यों नहीं कहते हो की तुमसे हमारे बगैर रहा नहीं गया?" कुमुद के मुंह से "रानी के बगैर रहा नहीं गया" निकल जाता पर अपने आप को सम्हालते हुए उसने "हमारे बगैर रहा नहीं गया" वाक्य का प्रयोग किया।

पर कमल अपनी पत्नी का इशारा समझ गया था। शर्म के मारे वह कुछ बोल नहीं पाया। कुमुद ने काफी अरसे के बाद अपने पति को उलझन में फंसे हुए चुप चाप रहते हुए महसूस किया।

कमल ने देखा रानी अपने पति राज की गोद में लेटी हुई थी और राज बात करते हुए अपनी बीबी रानी की छाती पर सजे हुए परिपक्व स्तनों को हलके से मसल ने लगा था।

इसे देख कमल ने भी अपनी बीबी कुमुद को अपनी गोद में लिया और कुमुद के स्तनों के ऊपर अपना हाथ फिराना और धीरे धीरे उनको को दबाना और मसलना शुरू किया। कुमुद ने जब अपने पति का हाथ पकड़ उसे रोकना चाहा तो कमल ने अपनी बीबी का हाथ हटा कर उसके स्तनों को और फुर्ती से मलना जारी रखा। हार कर कुमुद चुपचाप अपने पति की गोद में लेटी हुई अपने पति की हरकतों का आनंद लेती रही। दोनों ही पति अपनी अपनी पत्नियों के स्तनों को गाउन के ऊपर से मलने का आनंद लेने लगे।

राज ने कहा, "रानी ने अपनी सजा भुगत ली है इसलिए अब सवाल पूछने की बारी रानी की है। "

रानी कुमुद की और मुड़ी और बोली, "कुमुद बताओ, कौनसी पिक्चर में एक हिंदुस्तानी हीरो इंग्लैंड की टीम में क्रिकेट खेलता हुआ दिखाया गया है?"

कुमुद सोचने लगी। उसे क्रिकेट में ज्यादा दिलचस्पी नहीं थी। उसने कहा उसे नहीं मालुम। तब रानी ने कहा, "वह पिक्चर थी पटियाला हाउस। अब तुम हार गयी हो तो तुम भी अपने पति की गोद में बैठकर उसे चुम्बन करो।"

कमल तो इसी का इंतजार कर रहा था। उसने फुर्ती से कुमुद को लपक कर पकड़ा और अपने होँठ कुमुद के होँठों से मिलाकर चुम्बन में खो गया। कुमुद भी अपने पति के गाढ़ आलिंगन में जकड़ी हुई उसे चुम्बन करके कमल के होँठों को चूसने लग गयी। कमल का हाथ अपनी बीबी के स्तनों को गाउन के ऊपर से ही मसलने में लग गया।

अब कुमुद की बारी थी सवाल पूछने की। कुमुद ने अपने पति कमल से पूछा, "बताओ, शोले पिक्चर में सुरमा भोपाली कौन बना था?"

कमल ने फ़ौरन जवाब दिया, "जगदीप।"

जवाब सही था। अब सवाल पूछने की बारी कमल किआई। कमल ने अपनी बीबी कुमुद से पूछा, "कौनसी पिक्चर में हीरो आखरी बॉल में छक्का मारकर मैच जीतता है। "


कुमुद फिर जवाब नहीं दे पायी। उसने कहा, "मुझे नहीं मालुम।"


कमल ने कहा, "लगान"
Reply
03-22-2020, 01:40 PM,
#35
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
अपनी बीबी को सजा देनेकी बारी अब कमल की थी। कमल ने कुमुद से कहा, "अब तुम जाओ और राज की गोद में जा कर बैठ जाओ और उसे चुम्बन करो।"

कुमुद ने कमल की और तर्रार नज़रों से देखा और कहा, "ऐसा मैं नहीं कर सकती।"

कमल ने कहा, "तुम्हें करना ही पडेगा। हमने अभी अभी तय किया था की हम एक दूसरे से कोई बंधन नहीं रखेंगे। तो चलो राज को किस करो। वरना मैं उठकर चला जाऊंगा।" कुमुद बड़ी धीमी गति से उठी और जैसे बड़ी अनिच्छा दिखाती हुई राज और रानी की और घूमी। रानी राज की गोदमें से हट गयी और कुमुद राज की गोद में जा बैठी। फिर शर्म से नीची नजर रखे हुए कुमुद ने अपने होँठ राज के होँठों पर रखे। राज फ़ौरन कमल की और देखता हुआ (जैसे उसकी इजाजत मांग रहा हो) कुमुद को होँठ से होँठ मिलाकर चूमने लगा। राज और कुमुद थोड़े समय के लिए अटपटे ढंगसे एक दूसरे के होँठ चूमते रहे और फिर धीरे से अलग हुए।

कुमुद ने कहा, "बस भाई, यह गेम कुछ ज्यादा ही हो गया। अब मुझे नींद आ रही है। हम सोने चलते हैं।"

कुमुद जैसे ही मुड़ी की कमल ने उसे अपनी गोद में ले लिया और कुमुद की छाती दबाने में लग गया। कुमुद की कमल को रोकने की शक्ति नहीं बची थी। वह खुद भी तो कमल के हाथों से अपने स्तनों को दबवाने का आनन्द उठाना चाहती थी। राज ने देखा की कुमुद भी अब राज और रानी के सामने ही कमल के हाथों से अपनी चूँचियों को दबवाने का आनंद ले रही थी। राज ने रानी पर झुक कर अपनी बीबी के होँठों पर अपने होँठ रख दिए और रानी को चूमने लगा। रानी ने देखा की कमल उसकी और बड़ी लोलुप नज़रों से देख रहा था। शायद अपनी पत्नी की चूँचियों को दबाते हुए कहीं वह यह तो नहीं सोच रहा था जैसे वह रानी की चूँचियाँ मसल रहा हो?

इस के बाद कमरे में राज और उसकी बीबी रानी के और कमल और उसकी बीबी कुमुद के गहरे चुम्बन और होँठों से होँठ मिलाकर उन्हें चूसने के अलावा कोई और आवाज नहीं आ रही थी।

कमल बार बार राज और रानी की और देखता और तब उसके मन में एक कसक उठती। कमल और कुमुद राज और रानी के करीब ही लेटे हुए थे। दोनों पत्नियों की जांघें एकदूसरे से लगभग सटी हुई थीं।

तब कुमुद ने रानी की और घूम कर रानी के कानों में इस तरह से कहा जिसे उनके पति सुन ना सके। कुमुद ने कहा, "मेरी प्यारी छोटी बहन रानी। तू जितनी सुन्दर है उतनी ही सरल है। हमारे पतियों की तरह आज से हम दोनों बहनें भी एक दूसरे से कोई बात छुपायेंगे नहीं और एक दूसरे से हर चीझ मिलजुल कर शेयर करेंगे और बाँटेंगे। हम हमारा सुख, दुःख, यहां तक की हमारा प्यार भी एक दूसरे के साथ मिलकर बाटेंगे। तभी तो हम हमारे पतियों की सच्ची सह संगिनी बन कर रह सकती हैं ना? वरना उनके और हमारे बिच हमेशा मन भेद होता रहेगा। ठीक है? क्या तुम्हें यह स्वीकार्य है?"

रानी नजरें झुका कर कुमुद के कानों में फुसफुसाते हुए बोली, "तुम मेरी बड़ी बहन और मेरी शुभचिंतक हो। मैं वही करुँगी जो तुम कहोगी। तुम्हारी हर आज्ञा मुझे स्वीकार्य है।

कुमुद ने रानी से अलग होते हुए हल्का सा मुस्कुराकर बोली, "तो फिर अपनी शर्म को छोडो और चलो अब अपने पतियों का दुःख निवारण करते है।" यह कह कर कुमुद वापस अपने पति की बाँहों में पहुँच गयी और कमल के होँठों से अपने होँठ मिलाकर प्रगाढ़ चुम्बन करने में जुट गयी।

कमल ने पूछा, "रानी के साथ क्या फुसफुसाहट हो रही थी? रानी को क्या पाठ पढ़ा रही थी तुम? कहीं हमारे खिलाफ कोई साज़िश तो नहीं रच रही थी तुम दोनों?"
Reply
03-22-2020, 01:41 PM,
#36
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
कुमुद ने रानी से अलग होते हुए हल्का सा मुस्कुराकर बोली, "तो फिर अपनी शर्म को छोडो और चलो अब अपने पतियों का दुःख निवारण करते है।" यह कह कर कुमुद वापस अपने पति की बाँहों में पहुँच गयी और कमल के होँठों से अपने होँठ मिलाकर प्रगाढ़ चुम्बन करने में जुट गयी।

कमल ने पूछा, "रानी के साथ क्या फुसफुसाहट हो रही थी? रानी को क्या पाठ पढ़ा रही थी तुम? कहीं हमारे खिलाफ कोई साज़िश तो नहीं रच रही थी तुम दोनों?"

कुमुद ने कहा, "हम बेचारी क्या साज़िश रचेंगी? हम तो तुम्हारी सेविकाएं हैं। बल्कि मैं तो उसे यह कह रही थी की हमें हमारे पति की हर इच्छा, चाहे जो भी हो, पूरी करनी है।"

कमल ने कहा, "अच्छा? यह तो बड़ी समझदारी की बात कही तुमने।"

कमल ने फुर्ती से कुमुद को अपनी बाँहों में लिया और उसके होठोँ से अपने होँठ चिपका कर एक बार फिर उसे चुम्बन करने लगा। कमल का एक हाथ उसकी बीबी की चूँचियों को मसल ने में लगा था तो दूसरे हाथ से अचानक ही कमल ने अपनी बीबी कुमुद के गाउन के बटन खोलने शुरू किये। कुमुद ने अपने पति को जब रोकना चाहा तो कमल ने कुमुद के कानों में बोलकर यह याद दिलाया की उस रात के लिए कुमुद ने वचन दिया था की कुमुद कमल को कुछ भी करने से नहीं रोकेगी।


यह सुन कर कुमुद ने अपने पति कमल से कहा, "ठीक है, मैं तुम्हें नहीं रोकूंगी, पर पहले चद्दर तो ओढ़ लेते हैं।" यह कह कर कुमुद ने एक चद्दर खिंच कर अपने और अपने पति पर डाल दी।


राज और रानी हक्काबक्का होकर कमल और कुमुद की चद्दर के निचे की हरकतें देखे रहे। राज ने देखा की कमल अपनी बीबी कुमुद की चूँचियों को चद्दर के निचे से अनावरण करने में लगा हुआ था। राज की उत्सुकता बढ़ गयी। उसने कभी कुमुद के उन्नत उरोजों को खुल्ले नहीं देखा था।

कमल ने देखा की राज उसकी और टकटकी लगाए देख रहा था और कुमुद के स्तनों को निर्वस्त्र होने का इंतजार कर रहा था हालांकि राज के हाथ चद्दर के निचे उसकी बीबी रानी के गाउन के ऊपर रानी की चूँचियाँ मसलने में लगे हुए थे। कमल भी तो राज को प्रेरित कर रहा था की वह भी रानी के गाउन को खोले ताकि कमल को भी रानी के परिपक्व भरे हुए स्तनों को देखने का मौक़ा मिले।

दोनों पति प्यार तो अपनी बीबियों से कर रहे थे पर उनकी निगाहें दूसरे की बीबी पर थी। जब राज ने सुना की कमल अपनी बीबी कुमुद के गाउन के बटन खोलने की जिद कर रहा था और कुमुद उसको रोक रही थी, तब बार बार कमल वही बात दुहरा रहा था की कुमुद ने कमल को वचन दिया था की वह कमल को रोकेगी नहीं। कुमुद के पास उसका कोई जवाब नहीं था।

अब साफ़ दिख रहा था की कमल जबरदस्ती कुमुद के गाउन के पट आगे से खोलने में जुटा हुआ था। राज बड़ी बेसब्री से कुमुद के स्तनों के दर्शन करने की लालसा से कमल के कार्यालाप को बड़े ध्यान से देखने लगा। जैसे ही कमल ने अपनी बीबी कुमुद के गाउन के बटन खोले की कुमुद के स्तन अंदर से कूद कर फैलते हुए उसके गाउन के बाहर कूद पड़े। उसके साथ ही कुमुद चौंक पड़ी और इस आननफानन में कुमुद और कमल के ऊपर बिछाई चद्दर खिसक गयी और कुमुद के उद्दंड उरोज, राज को साफ़ साफ़ दिख गए। राज ने देखा की ऊपर से दबे होने के बावजूद कुमुद के दोनों स्तन फुले हुए और उद्दंड खड़े हुए, चॉकलेट रंग की छतरी जैसे एरोला के बिच फूली हुई निप्पलों का मुकुट पहने दो टीलों के समान प्रतीत हो रहे थे।
Reply
03-22-2020, 01:41 PM,
#37
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
कमल ने राज की और राज की प्रतीक्रिया महसूस करने के लिए देखा। राज को ऐसा लगा की शायद कमल ने जान बुझ कर ऊपर की चद्दर पैरों से झटका मार कर हटा दी थी ताकि राज को कुमुद के स्तनों के दर्शन हो सके। कुमुद के उन्नत स्तनों को देखते ही राज की आँखें फटी की फटी रह गयीं। अपनी बीबी रानी के स्तन भी तो भरे हुए और मदमस्त थे जो की उसने सैंकड़ों बार देखे थे। पर कमल की पत्नी कुमुद के स्तनों को निहार कर तो राज की शक्ल देख कर कमल को लगा जैसे राज पगला गया सा लग रहा था। उसका हाथ हालांकि अपनी बीबी रानी की छाती के उभार को सेहला रहा था पर उसकी निगाहें तो बस कुमुद की छाती से हटने का नाम नहीं ले रही थीं।

कुमुद की उन्मत्त चूँचियों को देखकर राज का लण्ड उसके पाजामें में फुंफकार मारने लगा। राज ने बरबस अपना लण्ड अपनी बीबी रानी की जाँघों से सटा दिया तब रानी ने आँखें खोली तो अपने पति राज को कमल की पत्नी कुमुद की नंगी चूँचियों के दर्शन करते हुए पाया। रानी अपने मन में ही कुढ़ने लगी। क्या उसके स्तन कुमुद के स्तनों से कम थे? क्या उसकी चूँचियाँ कुमुद की चूँचियों से छोटी या कम सुन्दर थीं? एक बार तो रानी का मन किया की वह अपने पति राज को धक्का देकर उसको डाँटे। पर फिर उसने सोचा की वह खुद भी तो कुछ ही देर पहले कुमुद के पति कमल का मोटा लंबा लण्ड देखकर पागल हो रही थी।

रानी ने फिर भी नारी वश इर्षा के कारण अपने पति की ठुड्डी अपने हाथों में लेकर हिलायी और उसके कानों में फुसफुसाई, "अरे भाई, कुमुद की चूँचियाँ मेरी चूँचियों से बड़ी और ज्यादा अच्छी हैं क्या? मेरी चूँचियों को देख कर क्या तुम्हारा पेट नहीं भरा?"

राज ने अपनी पत्नी की और घबराते हुए देखा और फिर सोचा क्यों ना इस नारी वश इर्षा का फायदा उठा जाय? उसने रानी को चिढ़ाते हुए रानी के कानों में कहा, "तो फिर दिखाओ ना अपनी मदमस्त चूँचियों को और अपने आप ही देखलो किसकी चूँचियाँ ज्यादा सुन्दर हैं?"

अपने पति राज की बात सुनकर रानी ने शर्मा कर राज के कानों में फुसफुसाते हुए कहा, "मेरे बुद्धू पतिदेव, इन पर तुम्हारा अधिकार है। कमल भैया के हाथ तो बड़े अच्छे चल रहें हैं तो अगर इन्हें देखना है तो तुम्हारे हाथों को क्या लकवा मार गया है? भला मैं तुम्हें कैसे रोक सकती हूँ?" यह कह कर रानी ने राज पर अपने पति की ही जुबान में जवाब दिया।

राज समझ गया की उस की बीबी रानी अब गरम हो रही थी। राज ने धीरे से चद्दर को अपने पॉंव के अंगूठे से पकड़ कर थोड़ी ऐसे खिसका दी जिससे कमल और कुमुद रानी को खुल्ला देख सके। रानी ने अपनी आँखें बंद ही कर रखीं थीं। राज ने फुर्ती से रानी के गाउन के आगे वाले बटन खोल दिए। बटनों के खुलते ही रानी के बड़े बड़े तरबूच रानी की ब्रा में से बाहर अनावृत होकर निकलने के लिए जैसे बेताब हो रहे थे।
Reply
03-22-2020, 01:41 PM,
#38
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
राज समझ गया की उस की बीबी रानी अब गरम हो रही थी। राज ने धीरे से चद्दर को अपने पॉंव के अंगूठे से पकड़ कर थोड़ी ऐसे खिसका दी जिससे कमल और कुमुद रानी को खुल्ला देख सके। रानी ने अपनी आँखें बंद ही कर रखीं थीं। राज ने फुर्ती से रानी के गाउन के आगे वाले बटन खोल दिए। बटनों के खुलते ही रानी के बड़े बड़े तरबूच रानी की ब्रा में से बाहर अनावृत होकर निकलने के लिए जैसे बेताब हो रहे थे।


फिर राज ने धीरे से रानी के बदन के निचे हाथ डालकर पिछेसे रानी के ब्रा की पट्टीयां खोल दी। गुम्बज के सामान फैले हुए रानी के मस्त उरोज ब्रा के बंधन में से मुक्त होते ही रानी की छाती पर डोल कर सब का ध्यान आकर्षित करने लगे। उन उच्छृंखल उरोजों पर गोरी गोरी एरोला की चॉकलेटी गोलाई दिख रही थी जिसमें छोटी छोटी सैंकड़ों फुंसियां खिली हुई थीं जो रानी के गरम होने की चुगली खा रहीं थी। उन गोरी अरोलाओं के घेरे के बिचोंबिच रानी के स्तनों की चोटी पर दो दण्डों के सामान उसकी फूली निप्पलें (चुचुक) गजब ढा रही थीं।

कमल पहले से ही इसी का इंतजार कर रहा था की कब राज अपनी पत्नी के गाउन के पट खोले और उसे राज की बीबी रानी की मद मस्त अल्लड़ चूँचियों के दर्शन हों। रानी के खुल्ले हुए अफलातून स्तनों को देखकर कमल की भी वही दशा हुई जो राज की कमल की बीबी कुमुद के स्तनों को देख कर हुई थी। लगता था जैसे कमल की आँखें रानी के मस्त परिपक्व फुले हुए अल्लड़ गुम्बजोँ को देख कर चौंधियाँ सी गयीं। कमल से रहा नहीं जा रहा था। वह रानी की उन चूँचियों को अपने दोनों हाथों में लेकर मसलना चाहता था। कमल रानी की चूँचियों को मसल ने का आनंद थोड़ी देर पहले ही ले चुका था। पर वह थोड़ी देर के उस स्पर्श से कमल को संतुष्टि नहीं हो रही थी। वह रानी के गुम्बजोँ को प्यार से और देर तक चूसना, चूमना और मसलना चाहता था।

पर उसे अपनी बीबी की उपस्थिति में थोड़ी सी झिझक हो रही थी। कुमुद ने देखा की उसका पति कमल राज की बीबी के स्तनों को घुरघुर कर देखा रहा था। कुमुद को बरबस हंसी आगयी। वह सोचने लगी यह पुरुष की जात बन्दर के समान है। जैसे ही कोई सुन्दर बंदरिया उसे दिखती है वह जीभ लपलपाता अपनी बीबी कितनी ही सुन्दर क्यों ना हो, को छोड़ कर दूसरी के पीछे भागने लगता है।

कुमुद ने अपने पति कमल के लण्ड को अपनी गाँड़ में टक्कर मारते हुए महसूस किया। कमल एकदम गरम हो चुका था। कमल ने कुमुद का हाथ पकड़ा और पीछे की और घुमाकर उसे अपने लण्ड पर रख दिया। कमल चाहता था की कुमुद उसके लण्ड को सहलाये। कुमुद ने अपने पति का लण्ड अपने हाथों में लिया और उसे धीरे धीरे सहलाने लगी। उसे इस पोजीशन में असुविधा हो रही थी।

दोनों पति दूसरे की पत्नी को और उसके बदन को भूखी नज़रों से देख रहे थे। पर उनमें हिम्मत नहीं हो रही थी की दूसरे की पत्नी को छुए। दोनों बीबियाँ भी काफी गरम हो चुकी थीं और चाहती थीं की उनका पति उनको और गरम करे। अपने मनमें शायद वह समझ चुकी थीं की उस रात उन दोनों की खूब चुदाई होने वाली थी।

कमल ने राज को इशारा किया की राज अपनी बीबी रानी के गाउन को पूरी तरह उतार फेंके। इधर कमल ने भी अपनी बीबी के गाउन को कुमुद के हलके फुल्के अवरोधकों ना मानते हुए पूरा खोल दिया। रानी और उसका पति राज कमल और कुमुद की गतिविधियों को बड़े ध्यान से देखने लगे। कुमुद के दूध समान गोरे नंगे बदन को पहेली बार अपनी नज़रों के समक्ष देखकर राज की बोलती बंद हो गयी। कुमुद एक अप्सरा के समान दिख रही थी। उसका नग्न बदन उसकी पतली कमर, उसके उन्नत फुले हुए स्तन मंडल और उसकी गिटार के सामान सुआकार कमर के निचे की बदन की गोलाई देखते ही बनती थी।

राज क्या राज की पत्नी रानी भी कुमुद का कमसिन और गोरा जलपरी सा नंगा बदन देखकर जैसे मोहित हो गयी। रानी अपने आपको रोक नहीं पायी और बरबस रानी का एक हाथ कुमुद के स्तनों से खेलने लगा। रानी और कुमुद दोनों एक दूसरे से एकदम सट कर लेटे हुए थे। दोनों की जांघें और कंधे एक दूसरे से रगड़ रहे थे। रानी के हाथ जब कुमुद के स्तनों पर थे तब कमल ने रानी के हाथों को थाम लिया और रानी की हथेली के पीछे उपरसे अपनी हथेली रानी के हाथ पर रख दी। कुमुद की सुन्दर उरोजों से कमल और रानी दोनों ही खेलने लगे।
Reply
03-22-2020, 01:42 PM,
#39
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
कुमुद ने कमल के लण्ड से अपना हाथ हटा लिया क्यूंकि कुमुद को दर्द हो रहा था। तब कमल ने अपने पाजामे का नाडा खोल दिया और अपने लण्ड को खुल्ला छोड़ दिया। कमल अपनी पत्नी कुमुद के पीछे था इसलिए राज और रानी उसे देख नहीं पाए पर उन्होंने देखा की कमल अपना पजामा उतार चुका था और वह कुमुद की बाहों के ऊपर से अपना एक हाथ लंबा कर अपनी बीबी कुमुद के स्तनोँ को दबा रहा था और साथ साथ रानी के हाथ जो कुमुद के स्तनोँ को सेहला रहे थे उन्हें दबा कर अपनी इच्छा प्रकट कर रहा था। पीछे से कमल कुमुद की गांड की दरार में हलके से अपना लण्ड फँसा ने में जुटा हुआ था।

यह देखकर राज भी उत्तेजित हो कर अपनी बीबी रानी के स्तनों को और जोश से मलने लगा। राज का सपना साकार होने वाला था। कुमुद के नग्न बदन के दर्शन करनेका राजका पहला सपना तो साकार हो ही चुका था। अब उसे दूसरे सपने का फलीभूत होने का बेसब्री से इंतजार था। वह बेचैन था की कब उसे कमल भैया की पत्नी और उसकी चाह, कुमुद के नंगे बदन को अपने हाथों से सहलाने का, दुलार करने का मौक़ा मिले।

कमरे में सेक्स की खुशबु चारों और फ़ैल रही थी। दोनों बीबियों ने जो परफ्यूम लगाए थे उसके साथ चारों की योनियों से रिसते हुए रस की खुशबु मिल कर एक रोमांचक सी महक कमरे को तरबतर कर रही थी। कोई कुछ भी बोल नहीं रहा था। सब का ध्यान 'अब आगे क्या होगा ' पर केंद्रित था। हालांकि सबको आज रात का अंजाम भलीभांति पता था, पर फिर भी आखिरी वक्त पर कहीं कोई पासा उलटा ना पड़ जाए, कहीं कोई बेगम नाराज ना हो जाए, उसकी आशंका से दोनों पति अपनी पत्नियों को कुछ ज्यादा ही खुश रखने में मशगूल थे।

हालांकि दोनों मर्द अपनी बीबी से ज्यादा दूसरे की बीबी के बारेमें सोच रहे थे; पर क्यूंकि बीबियों की रजामंदी के बगैर जो वह करना चाहते थे वह नहीं हो सकता था इस लिए, दोनों पति अपनी बीबियों को यह जताने में लगे हुए थे की उनका ध्यान अपनी बीबियों पर ही था। कोई भी पति दूसरे की बीबी को छेड़ने की पहल नहीं कर रहा था। हाँ कमल कुमुद के स्तनों को सहलाते हुए रानी के हाथ को दबा कर अपनी कामना का संकेत जरूर दे रहा था।


तब अचानक कमल धीरे से ऊपर की और उठा और अपनी बीबी कुमुद को पलंग पर सीधा लिटा कर उसके दोनों पाँवों के बिच जा पहुंचा। कुमुद कुछ बोले या कुछ विरोध करे उसके पहले कमल ने कुमुद की टांगें फैला दी और उनके बिच अपने मुंह को डालकर अपनी बीबी की चूत को चाटने लगा।


राज की नजर कुमुद की चूत पर अटक सी गयी। राज ने कई बार कुमुद को मन ही मन में चोदा था। कुमुद की चूत की कई बार वह कल्पना कर चुका था। पर अपनी आँखों से साक्षात् जब देखा तो पाया की कुमुद की चूत उसकी कल्पना से भी कहीं खूबसूरत थी। दो लचीली सपाट और कमनीय जाँघों के बिच छोटी सी हलके बालों में घिरी हुई कुमुद की गुलाबी चूत का कोई जवाब ही नहीं था। रानी के मुकाबले कुमुद की जांघें पतली और सुआकार थीं। कुमुद की पतली कमर और वहाँ से जाँघों का घुमाव कितना खूबसूरत था। राज देखता ही रहा।

शुरू में कुमुद शर्मिंदगी और उलझन के मारे अपने पति का विरोध करती रही पर जैसे ही कमल की जीभ ने कुमुद की चूत की पंखुड़ियों में अपना जादू फैलाना शुरू किया की वह मचलने लगी। अपने बदन पर उसका नियत्रण ना रहा और जल्द ही वह कामुक कराहें और आहें भरने लगी। शर्मिंदगी और उलझन पर स्त्री सुलभ व्यभिचार भाव हावी हो गया। उसे होश ना था की राज और रानी दोनों उसकी चूत की चुसाई देख रहे थे और वह नंगी लेटी हुई उन दोनों के सामने अपने स्त्रीत्व का प्रदर्शन करा रही थी।
Reply

03-22-2020, 01:42 PM,
#40
RE: kaamvasna साँझा बिस्तर साँझा बीबियाँ
शुरू में कुमुद शर्मिंदगी और उलझन के मारे अपने पति का विरोध करती रही पर जैसे ही कमल की जीभ ने कुमुद की चूत की पंखुड़ियों में अपना जादू फैलाना शुरू किया की वह मचलने लगी। अपने बदन पर उसका नियत्रण ना रहा और जल्द ही वह कामुक कराहें और आहें भरने लगी। शर्मिंदगी और उलझन पर स्त्री सुलभ व्यभिचार भाव हावी हो गया। उसे होश ना था की राज और रानी दोनों उसकी चूत की चुसाई देख रहे थे और वह नंगी लेटी हुई उन दोनों के सामने अपने स्त्रीत्व का प्रदर्शन करा रही थी।

जब बड़े भैया अपनी बीबी कुमुद की चूत चूस रहे थे तो छोटा भाई कहाँ रुकने वाला था? राज ने भी फुर्ती से रानी की भरी हुई जाँघें खोल कर रानी के गाउन को ऊपर उठाकर अपना सर रानी की दो टाँगों के बिच में डाल दिया और अपनी बीबी की चूत प्यार से चाटने लगा और उसमें से झरने की तरह रिस रहा रस चूसने लगा। राज को पहली बार महसूस हुआ की काम वासना की मारी उसकी बीबी रानी की चूत में से कितना पानी बह सकता है। राज बड़े चाव से वह रिस्ता हुआ पानी चूस रहा था। रानी अपने पति की चूत चुसाई से मचल रही थी। अब उसे यह शर्म नहीं थी की उसके करीब करीब नंगे बदन को और उसकी चूत चुसाई को कमल और कुमुद देख रहे थे और उत्तेजित हो रहे थे। रानी ने सोचा की शायद कहीं ऐसा ना हो की कमल भी उसकी जाँघों के बिच आकर उसकी चूत का पानी चूसने न लग जाय। यह सोचते ही उसके बदन में एक सिहरन सी फ़ैल गयी।

कमल ने थोड़ी देर बाद अपना मुंह हटाया और कुमुद की चूत में अपनी दो उंगलियां डाल दी और कुमुद को उँगलियों से चोदना शुरू किया। अक्सर औरतें लण्ड से ज्यादा उँगलियों की चुदाई से उत्तेजित हो जाती हैं। राज और रानी हैरान थे की इतनी सीधी, सादी और भगवान का भजन करने वाली कुमुद उंगली चोदन से कैसे पिलपिला रही थी और पलंग पर अपने कूल्हे रगड़ कर अपनी कामुकता प्रदर्शित कर रही थी। जैसे ही पति ने उँगलियों से चोदने की गति बढ़ाई की कुमुद से रहा ना गया और वह अपने पति से उसे चोदने की बिनती करने लगी। उसे यह कतई भी होश ना रहा की उसकी चुदाई अब राज और रानी बड़े ध्यान से देख रहे थे।

कमल की उंगलियां कुमुद के स्त्री रस से सराबोर हो रही थी। कमल ने धीरे से अपनी उँगलियों को अपनी बीबी की चूत से निकाला और उसे चाटने लगा। यह देख कर राज ने अपनीं बीबी रानी के बदन से गाउन पूरी तरह से हटा दिया। रानी के गाउन को हटाने की प्रक्रिया से कुमुद की तन्द्रा भंग हुई और कुमुद ने अपनी आँखें खोलीं तो रानी का पूरा नग्न बदन उसे एकदम करीब में ही दिखाई दिया। लम्बी और सुडौल रानी के नग्न बदन को देखकर कुमुद को इर्षा तो जरूर हुई पर फिर थोड़ा सा मुस्काकर थोड़ा सा घूम कर कुमुद ने रानी के गाल पर एक हलकी सी किस की।

रानी के कमसिन नंगे बदन को देख कर कमल थम सा गया। उसकी आँखें रानी के बदन का मुआईना करने से थक नहीं रहीं थीं। कुमुद ने अपने पति को थोड़ा सा धकका देकर याद दिलाया की वह खुद भी तो नग्न हालत में अपने पति के बिलकुल निचे चुदवाने के लिए पूरी तरह तैयार लेटी हुई थी। कमल ने अपने आपको सम्हालते हुए राज की और देखा। राज की आँखें भी कुमुद के नंगे बदन पर ऐसे टिकी हुई थीं जैसे कोई गिद्ध अपना शिकार सामने ही पा कर उसे एकटक देख रहा हो पर उसे लपक कर पकड़ने में कहीं कोई मुश्किल ना आन पड़े उससे डर रहा हो।

आँख से इशारा करते हुए कमल ने राज को जताया की अब आगे बढ़ना है। राज अपने गुरु का इशारा समझ गया और वो अपनी पत्नी रानी के दोनों स्तनों को जोर से दबाने एवं मसलने लगा। राज का लण्ड एकदम तना हुआ खड़ा हो चुका था और अब उससे रहा नहीं जा रहा था। राज ने अपने पजामे का नाडा हलके से खोल दिया और बदन को हिलाकर उसको निचे सरकाने लगा तब रानी ने अपने होँठ राज के कान के पास लाकर धीरे से बोली, "यह क्या कर रहे हो? तुमने मुझे कमल भैया के सामने नंगी तो कर ही दी। अब मुझे कमल भैया के सामने ही चोदोगे क्या? ज़रा शर्म तो करो।"

रानी की बात सुनकर राज बोला, "कमल भैया के सामने नंगी करने के लिए तो तूने मुझे पहले से ही इजाजत दे रखी थी। याद है तूने कहा था की किसी गैर मर्द के सामने मुझे नंगी करोगे क्या? और मैंने तुझे कहा था की कमल भैया कोई गैर मर्द थोड़े ही हैं? तब तूने कहा था 'हाँ यह बात तो ठीक है।' इसका मतलब यह था की तुम किसी गैर मर्द के सामने नंगी नहीं हो सकती पर कमल तो अपना है, उस के सामने तो नंगी हो सकती है। याद है की भूल गयी?"


रानी अपने पति को देखती ही रही। उसे अच्छी तरह से वो वाक्या याद था। वह खुद भी तो राज की बात सुनकर उत्तेजित हो चुकी थी। कमल से चुदवाने के लिए तो मानसिक रुप से वह तब की तैयार थी जबसे राज ने उसे कमल का नाम लेकर चुदवाने के लिए राजी कर लिया था। उसे लगा की राज की नियत उसे सिर्फ नंगी करने की या खुद चोदने की नहीं लग रही थी। शायद वह रानी को कमल से चुदवाना चाहता था।


रानी ने कहा, "देखो राज, अब बात कुछ ज्यादा ही आगे बढ़ रही है। पहले तो तुमने मुझे कमल भैया के सामने नंगी करके ठीक नहीं किया। अब तुम और आगे बढ़कर मुझे कमल भैया के सामने ही चोदने लगे और कमल भैया की नियत खराब हो गयी और कहीं उनको मुझे चोदने का मन हो गया तो? तब तो गज़ब हो जाएगा। अब मेहरबानी कर के बस भी करो। प्लीज।"

रानी के बदन में कमल से चुदवाने की बात सोचते ही एक अजीब सी रोमांच भरी सिहरन फ़ैल गयी। कमल का खड़ा लम्बा और मोटा लण्ड उसकी आँखों से ओझल नहीं हो रहा था। उस वक्त तो राज और कुमुद ने बिच में ही उनका खेल बिगाड़ दिया था। कमल रानी को चोदने वाला ही था की उस का पति राज और कमल की पत्नी कुमुद अचानक ही टपक पड़े और सारा मजा किरकिरा कर दिया। क्या उसका यह ख्वाब आज पूरा होगा? यह सोच कर रानी के रोँगटे खड़े हो गए। रानी की चूत में से रस रिसने लगा।

खैर अब रानी को कुछ नहीं करना था। जो भी करना था वह उसका पति ही करेगा यह विश्वास रानी को हो गया। बल्कि रानी ने सोचा की अब तो थोड़ा ना नुक्कड़ का ड्रामा करने में कोई बुराई नहीं है। रानी ने तुरंत राज का हाथ थाम कर कहा, "राज यह हम ठीक नहीं कर रहे। आप कमल भैया और कुमुद से कहो ना की वह अपने कमरे में चले जाएँ और जो करना है वह वहाँ करें।"
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम sexstories 931 2,416,687 11 hours ago
Last Post: Romanreign1
Star Maa Sex Kahani माँ का मायका desiaks 33 119,718 08-05-2020, 12:06 AM
Last Post: Romanreign1
  Hindi Antarvasna Kahani - ये क्या हो रहा है? desiaks 18 11,969 08-04-2020, 07:27 PM
Last Post: Steve
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा desiaks 17 34,805 08-04-2020, 01:00 PM
Last Post: Romanreign1
Star non veg kahani कभी गुस्सा तो कभी प्यार hotaks 116 154,222 08-03-2020, 04:43 PM
Last Post: desiaks
  Thriller विक्षिप्त हत्यारा hotaks 60 7,413 08-02-2020, 01:10 PM
Last Post: hotaks
Thumbs Up Desi Porn Kahani नाइट क्लब desiaks 108 17,312 08-02-2020, 01:03 PM
Last Post: desiaks
Exclamation Maa Chudai Kahani आखिर मा चुद ही गई sexstories 40 368,035 07-31-2020, 03:34 PM
Last Post: Sanjanap
Thumbs Up Romance एक एहसास desiaks 37 16,216 07-28-2020, 12:54 PM
Last Post: desiaks
  Hindi Antarvasna - काला इश्क़ desiaks 104 36,730 07-26-2020, 02:05 PM
Last Post: kw8890



Users browsing this thread: 6 Guest(s)