kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
02-04-2020, 12:22 PM,
#21
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
अजय और चम्पा किसी मनोहर सपने में खोए से झरने के किनारे गीले रेत में लेटे हुए थे ,एक दूसरे के जिस्म को सहला रहे थे मानो दुनिया में बस यही एक चीज है जो उनके लिये हो..
लेकिन सपना तो आखिर सपना ही होता है ,कभी ना कभी तो उसे टूटना ही होता है ,
दोनो के जिस्म अभी भी पानी में थोड़े डूबे हुए थे और थोड़े बाहर ,,अजय के तेज धक्के के कारण वो फिसलते हुए पानी में आ गए थे …
दोपहर का समय था और धूप की तेजी अब बदन को जलाने लगी थी ,अजय चम्पा को उठाकर एक पेड़ के नीचे ले आया साथ ही अपने कपड़ो को भी ,ऐसे तो चम्पा बदन में एक ही कपड़ा पहनती थी वो उसकी कुछ मीटर की साड़ी ..
अब अजय चम्पा की गोद में लेटा हुआ था और चम्पा उसके बालो को सहला रही थी ….दोनो ही किसी दुनिया में खोए हुए थे की अजय बोल पड़ा ..
“चम्पा आखिर ऐसा क्या हुआ था मोंगरा एक डाकू बन गई और तुम यंहा आ गई “
उसकी बात सुनकर चम्पा थोड़े देर के लिए चुप हो गई …
और अजय के बालो में उंगलियां फसाये सहलाती रही ,अजय के गालो में उसके आंखों का पानी आ टपका ,अजय उठ खड़ा हुआ और चम्पा के गालो को दोनो हाथो से पकड़ लिया और उसके गालो में अपने होठ लगा कर उसके आंखों से झरते हुए खारे पानी को अपने होठो से अंदर कर लिया …
“मेरी जान अगर तुम्हे इस बारे में बात नही करना है तो मैं तुमसे कुछ भी नही पूछूंगा “
अजय ने गंभीरता से कहा जिससे चम्पा के होठो में भी एक मुस्कान आ गई और वो उससे लिपट गई ..
“क्या बताऊँ यही तो समझ नही आता ,ठाकुर की ज्यादतियों के बारे में बतलाऊ या फिर मोंगरा के जिस्म की भूख के बारे में,या मेरे पिता के बदले के बारे में या मेरी माँ की फूटी हुई किस्मत के बारे में क्या क्या बतलाऊ तुम्हे कुछ समझ नही आता ……”
इतना कह कर चम्पा तो चुप हो गई लेकिन अजय को जैसे एक बहुत ही बड़ा शॉक लग गया ,ये चम्पा क्या कह रही थी ..
वो चम्पा की आंखों में झांकने लगा
“मुझे सब कुछ ही जानना है …..”
इस बार चम्पा अजय के गोद में लेट गई और अजय उसके बालो को सहलाने लगा ..
चम्पा ने बोलना शुरू किया

चम्पा की जुबानी आगे की कहानी

ठाकुर के आतंक की सीमा बढ़ने लगी थी वो हमारे गांव और आसपास के गांव की बहु बेटियों को अपने हवस का शिकार बनाने पर तुला हुआ था ,पुलिस भी उसके साथ थी वो ज्यादती पर उतर आया था तभी मेरे पिता ने ठाकुर के खिलाफ हथियार उठा लिया ..
मेरे पिता गांव के सरपंच के बेटे थे और बहुत ही बहादुर और गुस्सेल थे उनका नाम था कालिया जो की बाद में कालिया डाकू के नाम से प्रसिद्ध हुए …
वो जब गांव छोड़कर जंगलों में गए तब उनकी नई नई शादी हुई थी,मेरी माँ देखने में बहुत ही सुंदर थी पिता जी उससे बहुत प्यार करते थे लेकिन ठाकुर से विरोध करने पर उन्हें गांव छोड़कर जंगल में जाकर रहना पड़ा था ,वो वही से ठाकुर के खिलाफ साजिश रचा करते थे ,उन्होंने ठाकुर को फंसा दिया था उनका साथ कांस्टेबल तिवारी और डॉ चुतिया दे रहे थे……

फ़्लैशबैक स्टार्ट
कालिया के विद्रोह से ठाकुर की मानो रीढ़ ही टूट गई थी ,जो लोग उसके वफादार थे कालिया उन्हें ढूंढ ढूंढ कर मारता था ,ठाकुर बौखला गया था और कालिया के परिवार पर हमला करना चाहता था लेकिन कालिया को मानो पहले से पता था की वो उसके परिवार को निशाना बनाएगा इसलिए उसने अपने परिवार को अपने पास बुला लिया था ,लेकिन जंगल की भागादौड़ी और भयानक माहौल में वो अपने परिवार को नही रख सकता था,खासकर उसकी फूल सी पत्नी और बहन दोनो जवान लडकिया जिसे कालिया सबसे ज्यादा प्यार करता था लेकिन ये ही उसकी सबसे बड़ी कमजोरी भी थे, इनके इज्जत की रक्षा करना उसके लिए सबसे बड़ी चुनौती भी थी ,वो उन्हें एक आदिवासी काबिले के सरदार के पास रख कर अपना काम किया करता था ,..
इधर
ठाकुर ने कई नए लोगो को अपने साथ शामिल करना शुरू कर दिया ताकि वो कालिया का मुकाबला कर सके और उसमे सबसे खास था परमिंदर ..
परमिंदर बहुत ही सुलझा हुआ व्यक्ति था जो की ताकत में किसी से कम नही था ,वो ठाकुर के एक दोस्त के पास काम किया करता था वो शादीशुदा था और उसका एक बेटा भी था जिसका नाम बलवीर था (जो बाद में मोंगरा के गिरोह में जा मिला ) परमिंदर के पास ताकत के साथ साथ दिमाग भी तेज था इसलिए ठाकुर उसे पसंद करने लगा था ,परमिंदर की सूझ बुझ ने ठाकुर को कारोबार में बहुत फायदा पहुचाया था लेकिन उसकी असली परेशानी थी कालिया ……
“ठाकुर साहब मेरी बात मानो तो कालिया के बारे में सोचना छोड़कर आप उसके बीवी और बहन को ढूंढो “
परमिंदर ठाकुर के लिए जाम बना रहा था ,
“लेकिन कैसे साले ने ना जाने कहा उन्हें छिपा कर रखा है मिलती ही नही “
“तो कोई मुखबिर कालिया के गिरोह में क्यो नही भेज देते आप ऐसे लोगो की कमी तो नही जो पैसे के लिए अपने गांव से दगा करेंगे “
ठाकुर ने एक नजर परमिंदर की ओर देखा
“तुम्हे क्या लगता है की मैं गांव वालो को तकलीफ देता हु “
परमिंदर जोरो से हँस पड़ा
“मैं स्वामिभक्त हु ठाकुर साहब जो बोलोगे करूंगा चाहे वो सही हो या गलत लेकिन मुझे पता है की कालिया क्यो डाकू बना है ,आप किसी डाकू से नही लड़ रहे हो आप अपने अहंकार से पैदा हुए हैवान के कारण मिले श्राप से लड़ रहे हो …”
परमिंदर की बात सुनकर ठाकुर कुछ देर के लिये बस उसे देखता रहा लेकिन कुछ भी ना कह सका क्योकि वो जानता था की परमिंदर सही कह रहा है और साथ ही ये भी जानता था की उससे ज्यादा खुलकर कहने वाला और सही सलाह देने वाला साहसी आदमी उसे नही मिलेगा ….
परमिंदर की सलाह मानकर ठाकुर ने एक आदमी ढूंढ ही लिया और कालिया के गिरोह में उसे शामिल भी करवा दिया ..
और वही हुआ जो की ठाकुर चाहता था कालिया की कमजोरी का पता ठाकुर को चल गया था ………...
Reply
02-04-2020, 12:22 PM,
#22
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
“हम कहा है तुम लोग कौन हो ,और हमारे कपड़े ...ये किसने बदले ”
डरे हुए आवाज में कनक(कालिया की बहन ) कह रही थी..
पास ही बैठी रोशनी (कालिया की बीवी) भी डरी हुई थी लेकिन उसे सब कुछ समझ आ रहा था की आखिर उनके साथ क्या हुआ है ,वो एक बड़े से कमरे में थे जंहा बीचों बीच फूलों से भरा हुआ बड़ा सा बिस्तर था,पास ही सेविका के रूप में खड़ी हुए कुछ 5 लडकिया थी ,
कनक और रोशनी दोनो के ही आदिवासी महिलाओं के कपड़े निकाल दिए गए थे उन्हें नई महंगी और रेशमि पारदर्शी साड़ी पहनाई गई थी लेकिन वो भी बस साड़ी ही थी उसके अलावा और कुछ भी नही ..
उस साड़ी में भी उनका यौवन पूरे का पूरा दिख रहा था,वो दोनो ही काम की देवियां लग रही थी लेकिन डरी हुई ,भविष्य के खतरे का आभास उन्हें हो गया था वो सहमी हुई थी लेकिन उन सेविकाओं को देख कर उन्हें लगा की ये भी उनकी ही तरह जबरदस्ती यंहा लायी गई होंगी …
“आप ठाकुर साहब की हवेली में है ,कल रात ही आपलोगो को यंहा लाया गया था,ठाकुर साहब ने कहा है की अपदोनो हमारी मेहमान है और दोनो की खूब जतन की जाए ..”
एक बहुत ही सुंदर सी लड़की ने बड़े ही प्यारे शब्दो में कहा ,उसकी नजर नीची थी मानो वो उनकी ही दासी हो ,ठाकुर उनके साथ ऐसा व्यवहार करेगा ये तो दोनो ने ही नही सोचा था उन्हें तो लगा था की अगर ठाकुर के हाथो में आ गए तो फिर जिस्म को नोच कर खा दिया जाएगा…
लेकिन ठाकुर जिस्म को नोचने ही वाला था भले ही इस तरह ही क्यो ना हो ….
“आप लोग कुछ लेंगे “
फिर से उसी लड़की ने कहा
“हमे अपने घर जाना है “
कनक बोल उठी ,सभी के सर पहले से ज्यादा झुक गए लेकिन किसी ने कुछ भी नही कहा ..
रोशनी ने कनक को समझाया की वो मुसीबत में फंस चुके है और अभी उन्हें सम्हल कर कदम उठाना पड़ेगा ताकि यंहा से निकल जाए और अब तक ये बात कालिया को पता चल गई होगी वो हमे बचा लेगा ……
दोनो को ही कालिया की उम्मीद थी लेकिन ना जाने आगे क्या होने वाला था …..
“मालकिन आप दोनो नहा लीजिए ठाकुर जी आते ही होंगे”
उस लड़की की बात सुन कर दोनो ही दंग रह गए
“हम तुम्हारी मालकिन नही है “
रोशनी ने जोरो से कहा
“हमे आपको मालकिन कहने और गुलाम की तरह रहने का ही हुक्म मिला है ,आप कृपया नहा ले वरना ठाकुर साहब हमारे ऊपर गुस्सा होगें”
ठाकुर ये क्या कर रहा था या क्या करना चाह रहा था ,रोशनी समझने की कोशिस कर रही थी लेकिन गरीबी में रही कनक को ये वैभव बहुत ही भा रहा था ,उसकी ललचाई नजर रोशनी से बच नही सकी .
“ये तुम्हारे भाई के बैरी का घर है ,ये सभी सुख हमारे लिए मिट्टी जैसे है “
रोशनी ने कनक को झटकते हुए कहा ,वो भी हड़बड़ाई
“लेकिन भाभी सुख तो है ना …”कनक के सपाट बोल से रोशनी भी असमंजस में पड़ गई ,ना ही पिता ने ना ही पति ने सुख के नाम पर दिया ही क्या था उसे ,जीवन एक काटे की तरह ही बिता था ..ऐसा नही था की रोशनी कालिया से प्रेम नही करती थी लेकिन फिर भी ना ही वो उसके साथ ज्यादा वक्त बिता पाई थी ना ही सांसारिक जरूरतों को ही वो पूरा कर पाया था,लेकिन वो कालिया का बेहद सम्मान करती थी उसकी ही इज्जत की रक्षा के लिए कालिया ने हथियार उठाया अपने परिवार और जान की भी नही सोची …
“तेरे भइया ने हमारी इज्जत की रक्षा के लिए अपने जान की भी नही सोची …”
रोशनी के मन में चल रही बात उसने कह ही डाली …
“लेकिन ठाकुर तो अब भी हमारी इज्जत उतरेगा ना ...भाभी मैं नही कहती की भइया गलत है लेकिन सोचो क्या सचमे वो हमे बचा पाएंगे,और क्या ठाकुर हमे ऐसे ही जाने देगा,तो क्यो ना हम इन सुखों का ही मजा ले ले जब तक हम यंहा है ...क्योकि फिर तो जीवन में हमे ये कभी देखने भी नही मिलेगा “
कनक की बात से रोशनी के आंखों में आंसू छलक गए थे ,कनक का गला भी बैठ गया था लेकिन वो खुद को सम्हालते हुए बोली
“भाभी मैं अपना बलात्कार करवाना नही चाहती,हा अगर कुछ होगा तो मैं भी उसका मजा लुंगी “
इतना ही कहकर कनक स्नानगृह की ओर चली गई ,और रोशनी अब भी अपने आंखों में आंसू लिए हुए अपनी ननद की बातो को सोचती रही ,सच में उनकी किस्मत ही थी की ठाकुर उनसे ऐसे पेश आ रहा था वरना वो उन्हें किसी रंडी से ज्यादा अहमियत नही देता वो भी बस जिस्म की भूख मिटाने के लिए ……

इधर
कालिया अपने माता पिता के लाश के सामने घुटने के बल बैठा था ,
“कालिया हरिया का कही भी पता नही लगा “
एक आदमी हफते के उसतक पहुचा
“सरदार वो अपने ईमान का सौदा करके भाग गया है ,उसके घर में भी बीवी और बहन है उन्हें उठा कर लाता हु साले से उसके करनी का बदला लेंगे “
एक दूसरा आदमी गरजा
“मैं किसी का सरदार नही हु मैं कालिया हु तुम्हारा कालिया ,और हरिया की बहन मेरी भी बहन है ,वो मेरे गांव की बेटी है ,उसकी बीवी मेरे गांव की बहु है और मेरी भी बहु है ,किसी ने उनको छूने की कोशिस भी की तो मैं उसके हाथो को काट दूंगा
कालिया गरजा और सभी चुप हो गए
“हरिया ने जो किया है उसकी सजा उसे मिलेगी ,और ठाकुर ने जो किया है उसकी भी उसे सजा जरूर मिलेगी …”
“लेकिन कालिया पहले हमे भाभी और कनक को बचने की सोचना चाहिए ना जाने वो उनके साथ कैसा सलूक करेगा “
कालिय ने एक गहरी सांस ली ,
और कुछ सोचने लगा ,
“आज ही धावा बोलेंगे उसके हवेली में “
कालिया बोल उठा
“लेकिन कलिया वँहा जाना अपने हाथो से अपनी जान को दाव पर लगाना है तुम तो जानते हो ठाकुर की हवेली हवेली नही किला है ,कोई नही बच पायेगा “
कालिया फिर से सोच में पड़ गया क्योकि बात तो सही ही थी
“तो सिर्फ मैं जाऊंगा …”
“तुम पागल हो गए हो क्या वँहा तुम अकेले ...तुम्हारी जान हम सबके लिए बहुत ही जरूरी है कालिया सिर्फ तुम्हरी बहन और बीवी नही इतने लोगो के घर की बहु बेटियां आज तुम्हारे ही कारण सलामत है …”
“अगर मैं ना रहा तो तुम इस गिरोह को सम्हालोगे, ये गिरोह टूटना नही चाहिए शम्भू ,“
उसने शम्भू के कंधे पर हाथ रखा,शम्भू रो ही पड़ा था ,कालिया अपने जिद पर अडिग था और ये बात सभी को पता थी ……
Reply
02-04-2020, 12:23 PM,
#23
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
‘बहुत याराना लगता है …….’
‘बसंती इन कुत्तों की सामने मत नाचना ..’
‘गब्बर मैं तेरा खून पी जाऊंगा ‘
“वाह मेरे धर्मेंद्र ,भाभी मस्त फ़िल्म है ना सोले…धर्मेंद्र देखो ना क्या दिखता है ”
कनक tv स्क्रीन को देखकर तालिया बजा रही थी,रोशनी को उसकी ये हरकते बिल्कुल भी पसंद नही आ रही थी ,लेकिन क्या करे वो भी बार बार फ़िल्म की ओर आकर्षित हो जाती थी ,लेकिन फिर नजर बचा कर विक्रांत ठाकुर(प्राण ठाकुर का छोटा भाई ) की ओर देखती और डर जाती जो सोफे में बैठे हुए कनक की हरकतों का मजा ले रहा था .विक्रांत लगातार कनक को ही घूरे जा रहा था जैसे रोशनी का कोई अस्तित्व ही नही हो ,वो दोनो किसी रानियों की तरह सजाई गई थी और एक बड़े से कमरे में बड़े से सोफे पर बैठी थी ,जंहा सामने एक साफ पर्दा लगा हुआ था जिसमे .अभी सोले चल रही थी ,ये विक्रांत का ही कमरा था ,विक्रांत ने जब कनक को पहली बार देखा तब ही उसका कनक पर दिल आ गया था,विक्रांत प्राण से थोड़ा अलग था,जंहा प्राण को फूलों को निचोड़ने में मजा आता था वही विक्रांत को फूलों की धीमी सुगंध में ,वो भी कनक का धीरे धीरे मजा लेना चाहता था,रोशनी को प्राण ने पसंद किया था लेकिन विक्रांत के कहने पर ही प्राण उससे अभी तक दूर था ,क्योकि वो भी विक्रांत की तरह पहले उसे अपने बस में करना चाहता था लेकिन प्राण को कहा आती थी प्यार की भाषा लेकिन वो अपने भाई की जिद और रोशनी के मादक यौवन के कारण रुक गया था,वो इस फूल की निचोड़ना नही चाहता था बल्कि इसका इत्र बना कर हमेशा के लिए अपने पास रखने की चाह में था …
विक्रांत ने ही कनक को लुभाने के लिए उसे हर सुविधा दिलाई जिसके बारे में वो सपने में नही सोच सकती थी और इसका असर भी उसके ऊपर हो रहा था,कनक को सभी चीजों से मोह हो गया था ,जैसे वो अपने भाई और उसकी कुर्बानी को भूल ही गई थी …
“हमारे छोटे ठाकुर भी धर्मेंद्र से कम है क्या ..”
विक्रांत के पैरो के पास बैठा मुंसी जो उसका पैर दबा रहा था बोल पड़ा ,और अचानक ही कनक का ध्यान उसे घूर रहे विक्रांत की ओर गया ,मानो कनक को कई वाल्ट का झटका लगा हो ,सच में नवजवान और गठीले बदन के मालिक विक्रांत को देखकर वो शर्म से ढेर हो गई और उठकर जाने को हुई ,विक्रांत आगे बढ़कर उसका हाथ पकड़कर उसे अपनी गोद में बिठा लिया …
विक्रांत उसके गालो को हल्के हाथो से सहलाने गया,कनक के जिस्म में एक करेंट दौड़ गया …
“अरे रानी तुम्हारे लिए ही तो ये सारे जतन किये है और तुम ...तुम हो की हमसे दूर जा रही हो”
कनक का गाला सुख चुका था वो लाज के मारे सर गड़ाए जा रही थी ,आज पहली बार किसी मर्द ने उसे इस तरह से छुवा था,अभी अभी तो वो जवान हुई थी ,विक्रांत के शरीर से गुलाब की हल्की हल्की लेकिन मोहक खुश्बू आ रही थी ,जो की गांव के मर्दों के शरीर से नही आया करती ,मेहनतकस लोगो के शरीर से पसीने की खुश्बू आती है जो की कनक को बदबू लगती थी ,
विक्रांत उसकी साड़ी के ऊपर से ही उसके कनक के जिस्म को हल्के हाथो से मसल रहा था,कनक उसके आगोश में मचल रही थी ,थोड़ी ना नुकुर करती लेकिन फिर भी मानो वो पिघल रही हो ,रोशनी बस दोनो को देखे जा रही थी फिर अपना ध्यान tv में लगा देती लेकिन जो उसके सामने चल रहा था वो ज्यादा आकर्षण पैदा करने वाला था,विक्रांत ने मुंसी को वँहा से भगा दिया लेकिन रोशनी को वही बैठे रहने का हुक्म दिया,रोशनी के मन में भी ना चाहते हुए भी एक अजीब सा भाव उमड़ कर आ रहा था ,कनक की तो आंखे ही बंद हो गई थी ,
कोई अगर देखता तो कहता की दो प्रेमी एक दूसरे के आलिंगन में है ,ना की किसी दुश्मन की बहन से बदले वाली बात है,कनक और रोशनी दोनो ही भुल गए थे की वो अपने दुश्मन के घर उसकी बांहो का मजा ले रही है …
विक्रांत बड़े ही धीरे धीरे आगे बढ़ रहा था कनक का थोड़ा मोड़ा विरोध भी कम हो चुका था,रोशनी ना चाहते हुए भी बार बार तिरछी आंखे से उन्हें देख ही लेती ,कनक के चहरे का भाव बता रहा था की वो कितने आनंद में है और यही रोशनी की पीड़ा थी,अगर विक्रांत कनक का बलात्कार करता तो शायद वो कभी इतनी उत्तेजित नही होती लेकिन विक्रांत ने जो किया था वो उसे और भी ज्यादा तोड़ रहा था,शरीर से भी और मन से भी वो कालिया को जान से ज्यादा चाहती थी लेकिन आज जीवन में पहली बार उसके मन में कालिया के अलावा किसी दूसरे की मूरत घर कर रही थी,वो विक्रांत के गठीले जिस्म से मोहित हो रही थी ,वो अपने को रोकती कभी कभी खुद को धिक्कारती लेकिन फिर भी कनक की हल्की सिसकियां जो अभी बिना कुछ किये भी फुट पड़ती थी ,रोशनी के मन में इस सुख के भोग की लालच को जगा रहा था ..
रोशनी इतने मानसिक उधेड़बुन से गुजर रही थी की उसकी आंखे भर गई थी वो वँहा से उठकर जाने को हुई लेकिन विक्रांत ने उसका दौड़कर उसका हाथ पकड़ लिया,वो खड़ी हुई थी और विक्रांत उसे अपने से सटा लिया,

रोशनी की जैसे सांसे ही रुक गई ,आंखों में अब भी पानी था लेकिन आंखे बंद हो चुकी थी ,विक्रांत ने अपने ऊपर के कपड़े को निकाल फेका था,उसका गठीला जवान बदन और उसके बदन की खुश्बू दोनो ने रोशनी को उत्तेजित कर रहे थे,रोशनी की पीठ विक्रांत के बालो से भरी छाती में जा सटी,
“आह ह ह “
रोशनी के मुह से निकल गया,विक्रांत पुराना खिलाड़ी था ,रोशनी की आह से उसके होठो में एक अजीब सी मुस्कान खिल गई ,इन दोनो बालाओं का बलात्कार करके भी वो ये सुख नही पा सकता था जो अब उसे उनके साथ खेलकर मिल रहा था,कालिया से असली बदला लिया जा रहा था लेकिन अलग रूप से ………
विक्रांत ने रोशनी को अपने पास बिठा लिया,अब रोशनी और कनक दोनो उसके दोनो ओर बैठे थे,वो जानता था की कनक तो उसके गिरफ्त में पहले से है लेकिन रोशनी को और तोडना होगा ,वो अपना ध्यान अब रोशनी पर लगाने लगा,उसके साड़ी के पल्लू को गिरा दिया और अपने जीभ को उसके गर्दन पर लगा दिया..
“आह न न न ही ही”
रोशनी की आंखे बंद थी और वो बड़ी मुश्किल से बोल पाई,उसके फुले हुए स्तन का ऊपरी भाग उसके कसे ब्लाउज से बाहर झकने लगा था ,विक्रांत ने ललचाई निगाह से उसकी गोरी चमकदार चमड़ी को देखा,रोशनी और कनक दोनो ही गांव की रसदार और भरी हुई लडकिया थी,विक्रांत ने अपनी जीभ से रोशनी के खुले हुए स्तन को चाट लिया ,
“नही ...ओह नही आह “वो मछली जैसे छटपटाई और जल्दी से उठकर बाहर की ओर भागने लगी,उसकी इस हरकत से विक्रांत जोरो से हंसा लेकिन उस रोकने की कोशिस नही की ……..
रोशनी के जाते ही कनक विक्रांत के छाती को खुद ही चूमने लगी,विक्रांत हँसता हुआ सोफे में इत्मीनान से लेट गया
“तेरी भाभी पर अभी प्यार का भूत चढ़ा है फिक्र मत कर एक दिन वो भी तेरी तरह अपने जिस्म को मेरे सामने रख देगी ,और तुम दोनो को हम दोनो भाई अपनी कुतिया बना कर रखेंगे ...हा हा हा “
विक्रांत की बात से कनक थोड़ी रुकी लेकिन विक्रांत ने उसके सर को पकड़ कर अपने सीने से लगा लिया,
“चाट मेरी रानी “कनक फिर से उसके सीने के बालो पर अपने जीभ फेरने लगी जैसे विक्रांत की बात का उसपर कोई प्रभाव ही नही पड़ा हो ……….
Reply
02-04-2020, 12:23 PM,
#24
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
कालिया अपने बीवी और बहन की फिक्र में किसी भी खतरे से लड़ जाने को तैयार था ,वो अकेला हि उन्हें ठाकुर के किले से छुड़ाने को निकल पड़ा…….

कालिया दूर से ही उस हवेली को ध्यान से देख रहा था और साथ ही अंदर जाने की तरकीब ढूंढ रहा था ,पूरी हवेली मानो कोई किला हो ,चारो तरफ पहरेदार ही पहरेदार थे,बंदूख धारियों से पूरी हवेली ही घिरी हुई थी ,कालिया हवेली के पिछले भाग में गया,वँहा सुरक्षा कम थी लेकिन फिर भी बड़े से दीवाल के पर पहुच पाना भी मुश्किल था,कालिया ने अपने साथ एक रस्सी लाई थी ,वो गुना भाग कर एक नतीजे में पहुचा की वो रस्सी से दीवाल को पर करेगा फिर हवेली के बगीचे से छिपता हुआ मुख्य घर तक जाएगा,वो रस्सी को सही जगह डालने में सफल रहा और उसके सहारे ऊपर चढ़ नीचे कूद गया,उसका दिल जोरो से धड़क रहा था लेकिन अभी डरने का समय भी तो नही था,

वो फिर से रस्सी को उस बड़े से बगीचे में एक जगह छुपा दिया,और मुख्य हवेली की ओर बढ़ने लगा,लोग रात के सन्नाटे में एक दूसरे से बात करते हुए या ऊंघते हुए पहरा दे रहे थे,उसने ध्यान दिया की नॉकर आ जा रहे है और पहरेदार थोड़ा भी ध्यान उनपर नही दे रहे है,उसने रिस्क लेने की सोची और अपने बंदूख को वही रख चाकू को अपने कपड़े में छिपा कर अपने को थोड़ा संवारा ताकि वो गांव का ही आम आदमी लगे ,और जल्दी से जाकर एक आलू के बोरे को उठा लिया ,वो दूसरे दरवाजे से अंदर जाना चाहता था,

“ये क्या ले जा रहा है”

एक कड़कदार आवाज उसके कानो में पड़ी ,उसे लगा जैसे उसका दिल ही बाहर आ जाएगा …

“वो आलू है ,रसोई में पहुचा रहा था “

वो अपने को सम्हालते हुए बोला
“अबे मादरचोद अभी तुम्हे ये सब काम सूझ रहा है दिन भर क्या कर रहे थे,चल जा “

एक पहरेदार तम्बाखू मलते हुए बोला,कालिया पीछे के दरवाजे से रसोई तक चला गया,बड़ी सी रसोई थी लेकिन ठाकुर के परिवार के रहने का कमरा ऊपर था ये नॉकरो की जगह थी ,कालिया ने रात का फायदा उठाया और आहिस्ते से एक पाइप के सहारे ऊपर पहली मंजिल तक आ गया,बड़े बड़े दरवाजो और खिड़कियों से सुशोभित आसियान था,कालिया को समझ ही नही आ रहा था की इतने कमरों में आखिर रहता कौन होगा और जंहा उसे जाना है वो कमरा कौन सा होगा ,या ठाकुर ने उन्हें हवेली के अलावा कही और रखा है ,पहली मंजिल से नीचे का नजारा साफ साफ दिख रहा था ,जंहा कई पहलवान हाथो में बड़ी बड़ी बंदूख लिए टहल रहे थे,सामने से जाना अब भी खतरनाक था ,वो फिर से पीछे का रुख किया ,उसने पीछे की ओर से खिड़कियों में झकने की सोची लेकिन नीचे गिरने का और किसी के देख लेने का डर उसे सता रहा था,वो बेहद परेशान था की उसे किसी के पायलों की आवाज सुनाई दी ,देखा तो एक सजी सवारी लड़की माथे में लाल सिंदूर लगाए और लगभग पूरे दुहलन के लिबास में झम झम करती उसी ओर आ रही थी ,वो छुपने को भागा इतने बड़े घर में उसे समझ ही नही आ रहा था की जाए तो कहा जाए,उसे सीढ़िया दिखाई दी और वो उसी में चढ़ता गया,वो हवेली के छत पर था तीन मंजिलों की हवेली बाहर और अंदर से विशालकाय थी,और पूरे ओर से दूर दूर तक खेतो से घिरी हुई थी,थोड़ी दूर उसे जंगल भी दिखाई दे रहा था,छत पूरी तरह से शांत थी ,वो वँहा से नीचे देख पा रहा था,साथ ही उस हवेली की सही संरचना भी उसे तभी समझ आयी,असल में वो हवले वर्गाकार थी,जंहा वो खड़ा था वो एक छोर था ,वर्ग की चारो भुजाओं की तरह कमरे बने हुए थे और बीच में बड़ा सा बरामदा था जो की बाहर से नही दिखता था,वो एक छोर में खड़े हुए दूसरे छोर के कमरों को देख पा रहा था ,जो कमरे खुले हुए वो अपने वैभव की कहानी खुद ही कह रहे थे,

‘साला इतने बड़े घर में रहते कितने लोग होंगे,’उसके दिमाग में अनायास ही आ गया ,तभी उसे फिर से झम झम की आवाज सुनाई दी जिस आवाज से भागकर वो यंहा आया था फिर से उसे सुनकर वो डर गया लेकिन फिर उसे याद आया की वो एक अकेली औरत है और कालिया के पास उसे डराने को एक चाकू भी तो है ,वो सतर्क होकर अंधेरे में एक कोने में जा छिपा ..

वो लड़की आयी और छत की एक छोर में जाकर बैठ गई,वो सामने कुछ देख रही थी फिर उसने अपने हाथो से कुछ निकाला और अपने मुह में लगा लिया ,कालिया ने पहली बार किसी औरत कोई सिगरेट पीते हुए देखा था,उसने ठाकुर को ही ऐसा करते हुए देखा था बाकी गांव के लोग तो बस बीड़ी में ही खुस थे ,वो गहरे कस लगाए जा रही थी जैसे किसी गंभीर से ख्यालों में हो ...थोड़ी ही देर हुए थे की उसकी नजर अंधेरे में छिपे हुए कालिया पर पड़ गई ……

“कौन है कौन है वँहा “


कालिया को लगा की जैसे बचने का कोई भी चारा नही है

“मलकीन हम हम हरिया है”

“कौन हरिया और यंहा क्या कर रहे हो पता है ना की यंहा नॉकरो को आने की अनुमति नही है “

“माफ कीजिए मालकिन “

“चलो जाओ यंहा से “

कालिया चुप चाप उठा और वँहा से जाने लगा लेकिन किस्मत को तो कुछ और ही मंजूर था ,छत में बिछे पानी के एक पाइप में कालिया का पैर फंसा और वो गिर गया साथ ही उसके कपड़े में रखा चाकू उसके कपड़े से निकल कर सीधे उस लड़की के पैरो में गिर गया ,लड़की उस चाकू को तो कभी कालिया को देखती ,इतना बड़ा चाकू देख उसे किसी अनहोनी की असंका जागी वो चिल्लाने को ही हुई थी की कालिया ने फुर्ती दिखाई और जाकर उसे दबोच लिया,उसके मुह को जोरो से बंद कर दिया और पैरो से ही चाकू को उठाकर उसकी गर्दन पर टिका दिया,अब फंस चुका था तो डरना कैसा …

“थोड़ी भी आवाज की तो सीधे गाला रेत दूंगा “

कालिया ने कड़क आवाज में उसके कानो में कहा ,लड़की सिहर गई और शांत हो गई,कालिया ने धीरे से उसके मुह से हाथ हटाया ..

“कौन हो तुम और क्या चाहते हो “

लड़की ने डरे हुए आवाज में पूछा
“मै...क्या करोगी जानकर ..चलो पूछ ही लिया है तो बता दु मेरा नाम कालिया है…”

लड़की जितना पहले डर रही थी कालिया का नाम सुनकर मानो उसका डर ही खत्म हो गया ..

“कालिया,..वही कालिया जिसने इतने सालो बाद ठाकुर को उसकी औकात दिखाई,और जिससे बदला लेने के लिए वो उसकी बहन और बीवी को उठा लाया है,वही गरीबो का मसीहा “

लड़की उसके गिरफ्त से छूट गई थी लेकिन फिर भी कालिया से दूर नही भाग रही थी ना ही उससे डर रही थी बल्कि उसकी बातो में अपने लिए तारीफ सुन कालिया भी हैरान रह गया ..
“तुम तुम कौन हो …”

लड़की ने एक फीकी सी हँसी हँसी ..

“एक अभागन और ठाकुर के जुल्म का एक शिकार ...लेकिन अब लोग मुझे इस हवेली की ठकुराइन बुलाते है ,मैं प्राण ठाकुर की नई पत्नी हु …”

कालिया को याद आया प्राण ने कुछ महीने पहले ही अपनी पहली बीवी के मरने के बाद अपने से आधी उम्र की लड़की से शादी की थी ,
“तुम तो इस हवेली की ठकुराइन हो फिर तुम्हे कैसा दुख “

कालिया ने व्यंग मारा ,लड़की का मुह दुख से भर गया

“ठाकुर ने मेरे पिता के गले में तलवार रखकर मेरा बलात्कार किया था,उसे मैं ज्यादा पसंद आ गई तो वो मुझे हवेली ले आया और अपनी बीवी के मरने के बाद मुझे अपनी बीवी बना लिया,उसके लिए मैं बस हवस मिटाने का एक खिलौना ही हु उससे ज्यादा कुछ भी नही ..दुनिया को शायद लगता होगा की मैं इतने बड़े घर की मालकिन हु ,जमीदार की बीवी लेकिन असलियत तो मैं ही जानती हु,मेरी पिता जी ने मुझे फूलों की तरह पाला था,अच्छे संस्कार दिए थे ,पढ़ाया लिखाया,कालेज तक की पढ़ाई कर मैं नॉकरी कर रही थी ,लेकिन प्राण की नजर मुझपर पड़ गई ,मैं पड़ी लिखी हु शहर की रहने वाली हु शायद इसलिए इसने मुझे अपनी पत्नी का दर्जा दे दिया वरना शायद मैं भी उसकी रखैल बन कर रह जाती …”
Reply
02-04-2020, 12:23 PM,
#25
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
लड़की के आंखों से आंसू की बूंदे टपकने लगी ,कालिया कहता भी तो क्या कहता उसे अपने परिवार के दो सदस्यों की चिंता और भी जोरो से सताने लगी …
“मेरी बीवी और बहन कहा है “
लड़की के होठो में एक मुस्कान आ गई

“हर लड़की उनकी तरह खुशकिस्मत नही होती ,मैं तो सुख छोड़ कर इस नरक में आयी थी लेकिन तुम्हारी बहन को तो इसी नरक में मजा आने लगा है ,वो भी बेचारी क्या करे उसने इतने बुरे दिन देखे है ,गरीबी देखी है शायद इन सब सुखों के सामने जिस्म का सौदा उसे छोटा ही लग रहा होगा …”

कालिया उसकी बातो से चौक गया था ,उसके चहरे का भाव देखकर लड़की ने उसका हाथ पकड़ लिया ,चलो तुम्हे दिखती हु,वो उसे अपने साथ नीचे ले जाने लगती है और एक खिड़की के सामने अंधेरे में खड़ी हो जाती है ,कालिया उसके पीछे से अंदर का नजारा देख कर ही दंग हो जाता है,बड़े से पर्दे पर फ़िल्म चल रही थी …

‘बसंती इन कुत्तों के सामने मत नाचना ‘

कनक तालिया बजा रही थी और रोशनी उसके साथ बैठी हुई थी,दोनो लडकिया किसी रानी की तरह सजाई गई थी जैसे इस वक्त मौजूद प्राण ठाकुर की पत्नी थी ,कनक तो चहरे से ही बहुत खुस दिख रही थी वही रोशनी के चहरे में अलग अलग भाव आ जा रहा था ,कालिया के रगों में खून जोरो से दौड़ाने लगा,उसे समझ ही नही आ रहा था की वो क्या प्रतिक्रिया करे ,वो बस खिड़की से अंदर झांक रहा था……

कालिया देख रहा था की उसकी बहन किसी जिस्म बेचने वाली सस्ती रंडी जैसे हरकत कर रही है,उसके आंखों में आंसू आ गए ,वो भले ही एक डाकू बन गया हो लेकिन था तो वो गांव का एक सीधा साधा इंसान ही जो अपने परिवार से बेपनाह मोहोबत करता था,उसकी आंखों में आया हुआ आंसू झलक कर उसकी आंखों को छोड़कर नीचे गिरा कुछ बून्द जाकर ठकुराइन जिसका नाम पूनम था के कंधे में गिर गया,पूनम उसके सामने ही खड़ी थी ,वो अपना चहरा उठाकर कालिया को देखने लगी वो समझ सकती थी की आखिर कालिया के अंदर क्या चल रहा होगा,जिस परिवार को कालिया ने खत्म करने की सौगंध खाई थी ,उसी परिवार के सदस्य के सामने उसकी ही सगी बहन ऐसे व्यव्हार कर रही है ,हवेली में मिल रहे सुख ने उसे झोपड़ी में सीखी हुई मर्यादाओं को भुला दिया था,पूनम अपना हाथ आगे बड़ा कर कालिया के गालो पर रख दी ,ना जाने को कालिया उसे बेहद ही आकर्षित कर रहा था ,कमरे के अंदर कालिया के परिवार की इज्जत कनक विक्रांत के प्रति आकर्षित हो रही थी तो वही बाहर अंधेरे में खिड़की के पास खड़े विक्रांत के परिवार की इज्जत पूनम कालिया के प्रति आकर्षित हो रही थी,जंहा कनक को विक्रांत के शरीर से उठाने वाला इत्र का गंध मदहोश कर रहा था वही पूनम को कालिया के शरीर से उठाने वाली पसीने की खुश्बू मदहोश किये जा रही थी ,


वो जानबूझकर कालिया से और भी सट गई,प्राण से शादी के बाद कभी भी उसे प्यार तो मिला नही लेकिन साथ ही उसे शरीर का सुख भी प्राण नही दे पाया,जिस्म को नोंचना और शारीरिक सुख दो अलग चीजे होती है,प्राण के शरीर में अब इतना दम था भी नही की वो किसी नई नई जवान हुई लड़की के जिस्म की भूख को मिटा सके ,पूनम के लिए वो भूख कोई मायने नही रखती थी लेकिन फिर भी कालिया के मर्दानगी की खबरे वो कई दिनों से सुनती आ रही थी ,उसे मन ही मन कालिया से एक अजीब सा प्रेम भी हो गया था जिसके बारे में वो खुद भी नही जानती थी ,असल में उसे कालिया में वो शख्स दिख रहा था जो उसके ऊपर हुए अत्याचार का बदला प्राण से ले सकता था,और अवचेतन में छिपा यही आदर या प्रेम या कहे की आकर्षण आज बाहर आ रहा था..

कालिया को भी अब ये महसूस हो रहा था की पूनम कुछ ज्यादा ही उससे सट रही है,लेकिन कालिया के मन में कोई भी गलत विचार उसके लिए नही उठ रहे थे..

लेकिन जब रोशनी को विक्रांत ने खिंचा और अपने से सटा लिया और जब रोशनी की भी आंखे मजे में बंद हो गई कालिया टूट गया और वँहा से जाने को हुआ .पूनम ने तुरंत ही उसका हाथ पकड़ कर अपने पास खिंच लिया और अपने से सटा लिया…

पूनम का सर कालिया के छाती में लग गया था और पूनम की भारी छतिया कालिया के विशाल चौड़े सीने से,पूरी तरह से काला कालिया और दूध ही गोरी पूनम एक दूसरे से चिपके हुए अमावस और पूर्णिमा की रात का मिलन लग रहे थे,पुनम की सांसे तेज हो रही थी वही कालिया उसकी इस हरकत से घबरा गया था,

“जब वो तुम्हारे घर की इज्जत से खेल रहे है तो तुम क्यो पीछे हो ,तुम उनकी इज्जत की धज्जियां उड़ा दो “

पूनम ने अपने हाथो को कालिया के सीने के बालो पर फेरा ,कालिया का दिमाग शून्य में चला गया था उसे कुछ भी समझ आना बंद हो चुका था वो फिर से अंदर देखा,विक्रांत उसकी नई नई बीवी को उत्तेजित करने में कामयाब हो गया था ,कालिया को जोरो का गुस्सा आया और वो पूनम को जोरो से अपने बांहो में दबोच लिया ..
“आह “

पूनम को लगा जैसे वो किसी असली मर्द की बांहो में आ गई हो,ऐसी गिरफ्त और वो पसीने से भीगा कालिया का बदन और उसकी मजबूत मांसपेशियां पूनम पूनम के योनि से रिसाव करने को काफी थी,पूनम की कमर कालिया के कमर पर रगड़ खाने लगी ये कैसे हो रहा था ये तो पूनम को भी समझ नही आ रहा था लेकिन वो अपने कमर को जैसे कालिया के कमर से जितना हो सके उतना चिपकाना चाहती थी,कालिया भी उनके पिछवाड़े में उठे हुए पर्वत जैसे नितंबो को पकड़कर अपने कमर से और भी जोरो से दबा देता है…

पूनम की दबी ही सिसकी निकली ,कालिया की आंखे लाल थी वो गुस्से से बौखलाया था रोशनी अभी भी विक्रांत की बांहो में मदहोश सी पड़ी थी ,
कालिया ने पूनम की साड़ी को उठा लिया,पूनम की साड़ी कमर तक उठ चुकी थी कालिया ने अपने पंजे से पूनम के दोनो जांघो के बीच को दबोच लिया,
“आह नही “

पूनम उत्तेजना के मारे जैसे मर रही थी वो अपना सर कालिया के कंधे पर गड़ा गई,वो जोरो से सिसकियां ले रही थी ,कालिया ने अपने धोती से अपने लिंग को निकाला और सीधे ही पूनम के जांघो के बीच दे मारा,लेकिन वो भूल गया था की शहर की लडकिया नीचे कुछ कपड़ा भी पहनती है,उसका लिंग पूनम की पेंटी के ऊपर से ही पूनम के योनि में प्रहार कर गया,पूनम तो पूरी तरह से टूट गई वो जोरो से चिल्लाना चाहती थी उसे लगा जैसे किसी ने लोहे का रॉड उसके योनि में मार दिया हो,लेकिन अपनी आवाज को दबाने के लिए उनके अपना खुला हुआ मुह कालिया के कंधे में गड़ा दिया और दांतो को उसके मांस पर गड़ा दिया,कालिया कोई जब समझ आया की एक और कपड़ा पूनम के योनि में है वो हाथो को लेजाकर उसे थोडा साइड हटा कर फिर से अपने लोहे के सरिए जैसे लिंग को उसकी योनि में टिकाया जो अभी पूरी तरह के गीली हो चुकी थी और उसे एक ही झटके में पूनम के अंदर उतार दिया,कालिया का झटका इतना तेज था और उनका गांव का मजबूत लिंग पूनम की नाजुक योनि के लिए इतनी बड़ी थी की वो छिल कर खून फेक दी ,वो दर्द में झटपटा गई लेकिन उसका मुह बस खुला का खुला ही रह गया ,दर्द और आश्चर्य के मारे उसके मुह से आवाज तक ना निकली ...कालिया ने तुरंत ही उसके मुह को अपने हाथो से दबा दिया ताकि उसकी चीख उसके हाथो में ही घुट जाए,पूनम की आंखों में आंसू था,और कमरे के अंदर रोशनी ने अपने को विक्रांत से छुड़ा लिया था और अपने आंसुओ को पोछती हुई भागी थी ,

ये दोनो ही आंसू कालिया लिये उसकी गलती का अहसास दिलाने वाले साबित हुए वो तुरंत ही पूनम से अलग हो गया,पूनम ने अंदर देखा और समझ गई की कालिया उससे अलग क्यो हो गया,लेकिन उसके होठो में मुस्कान थी वो अपना कपड़ा थोड़ा ठीक की और कालिया जो अभी हुए हादसे से उभरा भी नही था के कानो के पास अपने होठो को लाई
“सच में तुम असली मर्द हो ,कितना बड़ा और कठोर है तुम्हारा ,तुम्हारे साथ मजा आएगा “

पूनम की बात से जंहा कालिया बुरी तरह से झेंपा वही पूनम उसे झेंपता हुआ देखकर हल्के से हँस पड़ी ……..
Reply
02-04-2020, 12:23 PM,
#26
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
“रोशनी कहा है “
कालिया ने कहा और पुनम मुस्कुरा दी
“इतनी जल्दी क्या है अभी तो विक्रांत तुम्हारी बहन के साथ मस्त है अभी वो तुम्हारी बीवी को नही सताएगा,ऐसे भी रोशनी विक्रांत के लिए बल्कि प्राण ठाकुर के लिए लाई गई है,..”
पूनम ने कालिया को चिढ़ाया और कालिया ने गुस्से में पूनम का मुह दबा लिया
“वो मेरी है और मेरी ही रहेगी”
कालिया के आंखों में शोले दधक रहे थे,और पूरा शरीर ही गुस्से से जल रहा था,लेकिन पूनम उससे थोड़ी भी नही डरी ,बल्कि उसके आंखों में थोड़े आंसू जरूर आ गए
“बहुत प्यार करते हो तुम अपनी रोशनी से ...लेकिन कालिया तुम विक्रांत को नही जानते वो उसे बदल देगा,तुमने देखा की वो आज ही बहकने लगी थी ,कुछ दिनों में वो विक्रांत के रंग में रंग जाएगी फिर विक्रांत उसे प्राण के सुपुर्द कर देगा,शायद वो प्राण की दूसरी बीवी बना दी जाए…”
पूनम के आंखों में दर्द का आंसू था ,और कालिया के दिमाग में एक अजीब सी शांति,तूफान से पहले और बाद एक गहरी शांति छा जाती है वही शायद इस समय कालिया के दिमाग में था ,
“मुझे क्या करना चाहिए”
पूनम के चहरे में फिर से एक मुस्कान आई,
कालिया उससे पूछ रहा था की उसे क्या करना चाहिए इसका मतलब साफ था की कालिया पूनम पर भरोसा करने लगा था ,
“तुम मुझपर भरोसा कर पाओगे ??”
पूनम ने व्यंग्यात्मक रूप से कालिया से पूछा
“इसलिए पूछ रहा हु ,शायद इस समय मैं सिर्फ तुमपर ही भरोसा कर सकता हु”
कालिया की बात सुनकर पूनम थोड़ी आश्चर्य में पड़ गई ,शायद उसने सोचा ही नही था की कालिया भी इतना जहीन और समझदार होगा…
“ऐसा क्या है मुझपर जो तुम सिर्फ मुझपर भरोसा दिखाने की बात कर रहे हो..”
कालिया के होठो में हल्की सी मुस्कान आई
“तुम्हारे आंसू झूठे नही थे ,ना ही अभी है ...मैं ज्यादा पड़ा लिखा तो नही हु लेकिन इतनी तो समझ है मुझे “
कालिया की बात सुनकर पूनम भी मुस्कुरा उठी .
“अच्छा तो पहले ये करो की यंहा से जाओ ,लेकिन पहले अपनी प्यारी रोशनी से मिलना ना भूलना ,उससे मिलने का बंदोबस्त मैं कर दूंगी लेकिन सम्हाल कर यंहा तक तो शांति है लेकिन उन दोनो के पहरे में बहुत से लोग लगा रखे है ठाकुरों ने…”
रोशनी से मिलने का नाम सुनकर ही कालिया झूम उठा ..
“ज्यादा खुस होने की जरूरत नही है अभी तो तुम बस उसे देख पाओगे,वो वँहा अकेली नही होगी ना ही मुझे ही उसके पास जाने की इजाजत है तो बस देख पाओगे बस,बात करवाने का मैं बाद में इंतजाम करूंगी “
कालिया का चहरा फिर से मुरझा गया लेकिन फिर भी वो इतने में ही खुस था की उसे ये पता लग जाए की उसकी बहन और बीवी को आखिर किस कमरे में रखा गया है ,और कैसे रखा गया है,वो बाद में और आदमियों के साथ जाकर उन्हें वँहा से निकालने का प्रयास कर सकता था …

इधर
रोशनी के जाने से विक्रांत के चहरे में एक मुस्कान आ गई थी ,वो अपने खेल में सफल हो रहा था,वही कनक उसके सीने को जमकर चाट रही थी ,विक्रांत को तो अभी भी यकीन नही हो रहा था की कालिया की बहन इस किस्म की निकल जाएगी उसके लिए उसे कोई भी महेनत नही करनी पड़ी…
वो कनक के सर को पकड़ कर उसे नीचे ले जाने लगा,कनक विक्रांत के शरीर को चाट रही थी ,और विक्रांत एक एक कर अपने कपड़े खोल रहा था ,उसे कनक की जीभ से अपनी मसाज होने में बहुत ही मजा आ रहा था ,
कनक नीचे जाती गई और अपने हाथो से ही विक्रांत को नंगा करने लगी ,वो विक्रांत की कमर के पास थी ,पेंट खोलने के साथ ही साथ विक्रांत का मोटा ताजा जवान लिंग फुंकार मरता हुआ कनक के चहरे से टकराया,
विक्रांत की हँसी छूट गई वही कनक उसे एकटक देखती रही.
“कभी देखा नही है क्या “
“देखा है लेकिन पहली बार इतने पास से देख रही हू…”
विक्रांत की भौ चढ़ गई
“किसका देख ली तू रांड”
कनक शर्मा गई और थोड़ी घबरा भी गई उसे लगा की जोश में गलत बात मुह से निकल गई
“अरे बोल ना अब भी शर्मा रही है “
“वो वो भइया का जब वो भाभी के साथ …”
कनक का चहरा पूरी तरह से लाल हो गया था शायद उस दिन की बातो को सोचकर ,वही विक्रांत के दिमाग में एक चित्र घुमा ,गोरी चिट्टी रोशनी के ऊपर काला कलूटा कालिया ,और नाजुक सी रोशनी के ऊपर कालिया का विशाल और मजबूत शरीर ...एक सिहरन सी उसके शरीर में दौड़ गई ,मानो वो घबरा गया हो
“कैसा है तेरे भइया का ..”वो रूखे हुए स्वर में बोला ,लेकिन कनक जैसे सपने में खो गई थी ,वो जागी ..
“बहुत बड़ा, काला और बिल्कुल लोहे जैसा दिखता है ..”कनक का मुह खुल गया था जिसे देखकर विक्रांत को ना जाने क्यो लेकिन बहुत ही जलन हुई ,वो कनक का सर पकड़ कर उसके खुले हुए मुह में अपने अकड़े हुए लिंग को भर दिया ,
“मादरचोद इससे भी बड़ा है क्या …”
कनक गु गु कर रही थी ,विक्रांत ने पहली बार इस तरह के कनक पर जोर जबरदस्ती की थी ,थोड़ी ही देर में उसे जैसे होशं आया की वो क्या कर रहा है ,वो कनक के सर को छोड़ा वो खुद के व्यवहार से ही आश्चर्य में था लेकिन ये तो वो भी समझ रहा था की एक बेहद ही जलन भरा अहसास उसे हुआ था जो शायद उसे जीवन में पहली बार हुआ था ,उसने हमेशा ही अपने को हर चीज में आगे पाया था,यंहा तक की प्राण से भी आगे वो खुद को मानता था और जंहा बात सेक्स की हो उसे आजतक यही लगता था की उसका औजार ही सबसे मजबूत और बड़ा और वो किसी भी लड़की को अपने जाल में फंसा सकता है...लेकिन
लेकिन पहले रोशनी ने उसका ये भरम तोड़ दिया ,उसे कुछ खास दुख नही हुआ क्योकि वो जानता था की वो रोशनी को कभी भी पा सकता है लेकिन अब कनक की बात ने उसे सच में जला दिया था उसे लगा की शायद इसी लिए रोशनी उसके पास नही आयी क्योकि उसका पति उससे ज्यादा मजबूत है …
कनक भी आश्चर्य से उसे देख रही थी जो की बहुत ही तेजी से हांफ रहा था ..
“हा दूर से तो ऐसा ही लगता था की भइया का वो तुमसे बहुत बड़ा है ,भाभी तो उसे दो हाथो में भी नही समा पाती थी ,”कनक के चहरे में उसे जलाने वाली मुस्कान आयी ,विक्रांत को लगा जैसे किसी ने बिजली का झटका दे दिया हो,वो एक घुमा कर चाटा कनक के गालो में लगा दिया,उसका उठा हुआ लिंग ना जाने कैसे मुरझा गया था वो लाल हो चुका था और अपने अंदर उठ रहे शैलाब से बुरी तरह से परेशान भी..
उसे खुद का व्यवहार ही समझ नही आ रहा था और इसलिए वो और भी बौखला गया था ,वो तुरंत ही उठकर तेजी से कमरे के बाहर निकल गया,
कनक के होठो में उसकी स्थिति को देखकर एक बड़ी ही रहस्यमय मुस्कान आ गई ,जैसे उसे विक्रांत की कमजोरी का पता चल गया हो………..
Reply
02-04-2020, 12:23 PM,
#27
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
कालिया एक कमरे में बड़े ही बेताबी के साथ घूम रहा था ,थोड़ी देर बाद ही पुनम वँहा आयी,
“कहा है रोशनी …”
कालिया की बेचैनी उसके आवाज से ही पता चल रही थी
“अच्छी है तुम्हारी रोशनी फिक्र मत करो”पूनम हल्के से हँसी
“तुम्हारी बेचैनी सही है कालिया लेकिन अभी तुम्हे थोड़ा तो धैर्य धरना होगा ,ये कमरा सभी के नजर के बाहर ही है और तुम यंहा खिड़की से आ जा सकोगे,बाहर ताला पड़ा होता है इसलिए यंहा कोई आता भी नही मैं तुम्हारी रोशनी को यंहा तक लाने का प्रयास करूंगी,लेकिन अभी नही अभी वो ही बहुत पहरे में है,,,”
पूनम की बात तो कालिया को सही लगी लेकिन उसके दिल में अभी एक डर था जो उसने पूनम के सामने रख दिया
“लेकिन इतने दिनों में अगर उसे कुछ हो गया तो..”
पूनम कालिया को ध्यान से देखती है उसे भी पता था की ठाकुरों का कोई भरोसा नही है की कब उनका हवस जाग जाए ..
“तुम्हरी रोशनी को कोई चोट तो यंहा नही लगने दी जाएगी लेकिन हो सकता है की उसके जिस्म से खेला जाए ,जो माहौल अभी है मुझे नही लगता की रोशनी के मर्जी के बिना प्राण या विक्रांत उसे छूने वाले है “
“वो कभी नही मानेगी “
कालिया गरजा ,लेकिन पूनम के होठो में मुस्कान आ गई
“वो तो तुम्हे आज ही दिख गया था …..कालिया जिस्म का कोई भरोषा नही की वो कब मचल जाए ,और रोशनी की आज की हरकतों से तो मुझे लगता है की वो भी जल्दी ही बहक जाएगी ,और बस एक बार की देर है फिर इस रास्ते से वापस नही आया जा सकता ..”
कालिया गहरे सोच में पड़ गया था
“तब तो मुझे जल्द ही कुछ करना होगा,”
“क्या करोगे ,यंहा से उसे ले जाओगे ,ले जा सकते हो ,तुम्हारा आना मुमकिन हो सकता है लेकिन उसको यंहा से ले जाना ,,,,दोनो मारे जाओगे ,और उसमे तुम्हारे तरह ताकत और लचक काबिलियत नही है की वो इस बड़े दीवार को खुद जाए …”
कालिया जानता था की रोशनी को ले जाना उसके लिए मुसीबत बनने वाला था …
“लेकिन मैं उससे अभी मिल तो सकता हु ना “
पूनम थोड़ी देर सोचते रही .
“तुमने एक चीज गौर की कालिया तुम इतने देर से बस रोशनी की ही बात कर रहे हो ,कनक के बारे में तुमने कुछ पूछा ही नही ..”
कालिया का चहरा मायूस हो गया था
“उसे यंहा की खुसिया ही भा गई है तो पूछने का सवाल ही पैदा नही होता,शायद मेरी परवरिश में ही खराबी थी जो उसे झोपड़ा नही महल को चुन लिया,एक भाई की नजर से देखु तो लगता है की अगर वो यंहा रहे तो ही सही है ,कम से कम खुस तो रहेगी जो उसे बचपन से चाहिए था वो सब उसे यंहा मिल जाएगा,बचपन में वो बोला करती थी उसे महल में रहना है ,नॉकर चाहिए,दौलत की भूख तो उसे हमेशा से थी लेकिन गरीबी ने सब कुछ मार दिया था शायद इसलिए वो अपने को समर्पित कर गई और थोड़ा भी नही सोचा ….”
कालिया के आंखों में आंसू थे ,पूनम उसके पास गई और उसके कंधे पर अपना हाथ रखा,
“कोई बात नही शायद उसे ये चकाचौंध पसंद आ रहा होगा लेकिन कब तक ,और मैं तुमसे ये पूछना चाहती थी की अगर रोशनी को भी ये सब पसंद आ रहा हो तो ,या आने लगा तो ...तो क्या तुम उसे भी अपने साथ नही ले जाओगे “
कालिया बुरी तरह से चौक गया ,ये सच भी हो सकता था …
“क्या तुम देखना चाहोगे की अखिर क्या रोशनी को ये सब पसंद आ रहा है या नही …”
कालिया अवाक था .,,
“मैं चाहती हु की तुम अभी उससे मत मिलो अगर तुम चाहो तो उसे देख जरूर लो ,क्या पता उसे भी इस शानोशौकत की आदत लग जाए और तुम जिस पत्नी को बचाने के लिए अपनी जान की परवाह नही कर रहे हो वो पहले वाली लड़की ही ना रह जाए ...ये भी हो सकता है की वो तुम्हारे साथ जाने से ही माना कर दे,या अगर पत्नी धर्म निभाते हुए अगर तुम्हारे साथ चले भी जाए तो भी हमेशा अपने फैसले पर दुखी रहे …”
कालिया बुरी तरह से मचल गया था ,वो बेचैनी से पूनम की बात को सोचने लगा,उसका दिल कहता था की रोशनी ऐसा नही करेगी लेकिन क्यो नही ???
अगर उसे ऐसा शानो शौकत मिलता तो क्या वो छोड़ देता,अपने परिवार के लिए क्या वो ये सब छोड़ देता,..???
कालिया इसी सोच में था ,
परिवार के लिए ये शब्द उसके दिमाग में घुमा,
‘कौन है परिवार मेरा या रोशनी का सिर्फ मैं ही तो ऐसा बच गया हु जिसे वो परिवार कह सकती है …
या शायद मैं भी नही ,....
रहता ही कितने दिन हु उसके साथ ,दिया ही क्या है आजतक उसे ,सिर्फ दर दर की ठोकरों के सिवा,क्या वो फिर से सारी जिंदगी ऐसे ही जीने के लिए मेरे साथ चली आएगी,जबकि यंहा उसे सारे सुख मिलेंगे,जिस्मानी सुख भी …’
जिस्मानी सुख की सोच कर कालिया के रग रग में खून का प्रवाह तेज हो गया ,चहरा तमतमा गया ,वो किसी और के बांहो में रोशनी की कल्पना भी कैसे कर सकता था वो भी तब जब रोशनी खुद ही अपना जिस्म किसी को सौप दे …
लेकिन ये होने ही वाला था अगर रोशनी यंहा रहती है तो आज नही तो कल ये होकर ही रहेगा ,...ये भी हो सकता है की रोशनी मेरी ही राह देख रही हो ,और अगर मैं उसके सामने ना आऊ तो फिर उसके सामने फिर और क्या रास्ता बचेगा सिवाय इसके की वो मर जाए या फिर प्राण की रखैल बन कर रहे …
“नही नही मुझे उसके सामने जाना ही होगा वो भी मेरी ही प्रतीक्षा कर रही होगी “
कालिया जोरो से बोल गया ,पूनम उसे देखती रही..
“ठीक है अगर तुम यही चाहते हो ठीक है ,लेकिन मेरी बात पर भी गौर करना “
“मैं के सब कुछ सोच कर ही बोल रहा हु ,अगर उसे यंहा का सुख पसंद हो तो मैं उसे यही छोड़ कर चला जाऊंगा लेकिन अगर वो मेरे साथ आना चाहे तो दुनिया की कोई भी ताकत मुझे नही रोक पाएगी ,लेकिन पहले मुझे उसे भी ये बताना होगा की मैं उसे लेने आ चुका हु और आज नही तो कल उसे लेकर ही जाऊंगा …”
कालिया के चहरे पर आये दृढ़ निश्चय के भाव को देखकर पूनम भी कुछ नही कह पाई ,और बस उससे बिदा लेकर एक दरवाजे से बाहर चली गई ……...
Reply
02-04-2020, 12:23 PM,
#28
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
कालिया पूनम के साथ हो लिया ,पूनम के दिमाग में बस यही चल रहा था की आखिर कैसे कालिया को रोशनी से मिलवाया जाए ,वो कालिया को एक दासी की साड़ी देकर उसे पहनने को बोलती है ,कालिया ने अपनी धोती के ऊपर पेटीकोट डालकर और बनियाइन के ऊपर ब्लाउज डालकर वो साड़ी पहन लेता है,लेकिन उन बड़ी हुई दाढ़ी और मूंछो का क्या करे ,पूनम की हँसी उसे देखकर ही नही रुक रही थी ,वो मर्दाना शरीर का मालिक था और कुछ भी करने पर भी वो किसी औरत की भांति नही दिख पा रहा था,पूनम ने दिमाग दौड़ाया और घूंघट डालने को कहा ,घूंघट डालने के बाद भी उसके शरीर का क्या किया जाए पूनम को समझ ही नही आ रहा था,फिर भी उसने रिस्क लेने की सोची और उसे अपने साथ साथ रोशनी और कनक के कमरे की ओर ले गई,,..
वो पहले ही जाकर अपनी विस्वस्त दासी को उस कमरे में रखवा चुकी थी ताकि समय पड़ने पर वो काम आये क्योकि पूनम का भी उस कमरे में जाना सम्भव नही था केवल चुनी हुई दसिया ही उस कमरे के लिए निर्धारित की गई थी जिसमे से एक पूनम की खास थी,
पूनम ने उस दासी के साथ ही कालिया को भी उस कमरे की ओर भेज दिया ,उसे किसी दाई का नाम दे दिया जो वैसे ही मर्दाना ढंग के थी और औरतो की मालिश किया करती थी ,साथ ही हमेशा घूंघट में ही रहती थी,दासी को समझा दिया गया था की कह दे की इसका मौन चल रहा है और उपवास है,बाकी प्राण अगर पूछे तो कह दे की विक्रांत ने मालिश के लिए भेजा है और विक्रांत अगर पूछे तो कह दे की प्राण ने भेजा है,क्योकि वो दोनो ही ऐसी छोटी छोटी बातो पर कोई ध्यान ही देते थे,
कालिया कमरे में आ चुका था ,वो दासी बाकियों से बात में उलझी हुई थी,
“आओ दाई इस कमरे में आओ “कालिया दूसरी दासी के पीछे हो लिया ,कालिया ने जितना देखा था वो समझ गया था की आखिर क्यो कनक यंहा की दीवानी हुई जा रही थी,अभी वो उनके बाथरूम में थे जंहा बड़ा सा टब था जिसमे दो तीन आदमी आराम से आ सकते थे,हल्के कुनकुने पानी में गुलाब के फूल तैर रहे थे जिससे रोशनी का शरीर ढंका हुआ था ,शायद उसने कोई भी कपड़े नही पहने हुए थे,
जितना बड़ा वो बाथरूम था उतना बड़ा तो कालिया का पूरा घर भी नही था ,आलीशान तब और बड़ा सा रोशनदान जंहा से धूप छनकर आ रही थी,इत्र की खुश्बू से कालिया का नाक ही भर गया था,लगा की वो स्वर्ग में है ,
कालिया ने रोशनी को देखा ,वो आंखे बंद की हुई आराम से लेटी हुई थी जैसे उसे दुनिया की कोई भी खबर या फिक्र ना हो,उसके सर के पास बैठी हुई एक दासी उसके कंधों को हल्के हल्के से मालिश कर रही थी,उसे देखकर ही कालिया का मनोबल थोड़ा टूट गया,
‘सच में वो कितने सुख में है ‘उसने अपने मन में कहा
तभी कमरे का दरवाजा खुला और कनक वँहा आयी,उसे अपने जालीदार घूंघट से देखकर ही कालिया के होशं उड़ गए ,
‘क्या भगवान अब यही दिन देखना बच गया था ‘वो फिर से मन ही मन रो पड़ा ..
कनक पूरी तरह से नंगी थी और हल्के हल्के से हंसती हुई आकर रोशनी के साथ उस टब में लेट गई …
“क्या भाभी मजा आ रहा है..”कनक खिलखिलाई
तभी वँहा पूनम की चहेती दासी भी आ गई और सर झुकाकर एक ओर खड़ी हो गई ,कनक उसे देखने लगी दोनो की नजर मिली और दोनो ने हल्के से मुस्कान आपस में बिखेर दी..
कनक की बात सुनकर कालिया को और भी पीड़ा पहुची थी,उसकी भी बहन उसकी ही बीवी से ऐसी बात कर रही थी..
रोशनी ने आंखे खोली उसकी आंखे लाल थी ,और चहरा शांत ..
“चाहे कितनी भी सुख दुविधा मिल जाए लेकिन …...तेरे भइया के साथ झरने में नहाने का मजा थोड़ी ही आएगा ..”
वो दुखी थी जो उसकी आवाज से ही पता चल पा रहा था लेकिन वो रो नही रही थी ,शायद बहुत रो चुकी थी ,
“ओह तो भइया का काला लंड याद आ रहा है मेरी भाभी को ..”
कनक फिर से जोरो से हँस पड़ी
रोशनी बुरी तरह से शर्मा गई साथ ही कालिया भी …
कनक ने रोशनी की मालिश कर रही दासी को वँहा से भेज दिया,अब कमरे में बस पूनम की दासी ,कनक रोशनी और कालिया थे..
“ऐसे भइया की तरह ही तगड़ा लंड हमारे विक्रांत बाबू का भी है,देखा ना कैसे पकड़े हुए थे आपको ..”
कालिया तो बुरी तरह ही हिल गया ये उसकी बहन थी जिसे उसने गोद में खिलाया था,वही आज अपनी भाभी को बेवफाई के लिए उकसा रही है...कालिया गुस्से से भर गया लेकिन कुछ भी नही कह पाया ..
“चुपकर कुछ भी बोलती है और तुझे कैसे पता की तेरे भइया का वो …”रोशनी शर्मा गई जिसे देखकर कालिया और भी गुस्से में भर गया ,साली दोनो एक सी है ,उसने मन में ही कहा
“जब आप और भइया करते थे तो मैं भी छुपकर देखा करती थी ..
“छि बदमाश कैसी लड़की है तू “रोशनी पहली बार खिलखिला कर हँसी वही कालिया को तो अपने कानो पर विस्वास ही नही हो रहा था,जिसे वो अपनी सीधी साधी बहन समझता है जिसे दुनिया के कोई टेढ़े चाल नही पता वो तो एक …
कालिया आगे की बात नही सोचना चाहता था ..
“तेरे भइया कहा है कनक क्या वो हमे भूल गए है क्या वो यंहा नही आएंगे …”
कालिया को लगा की वो तुरंत ही अपना घूंघट निकाल दे ,वो ऐसा करने ही वाला था की एक हाथ ने उसे रोक लिया वो हाथ उस दासी का था जिसे पूनम ने कालिया के साथ भेजा था..
“उन्हें अब भूल भी जाओ भाभी ,विक्रांत तुम्हारा दीवाना है तुम्हे रानी बना कर रखेगा,उस कंगाल के पास तुम्हे क्या मिलेगा तुम विक्रांत के साथ हो जाओ और बस ऐश करो ,वैसे भी उसका लौड़ा भी तुम्हारे कालिया के बराबर का ही है ..”
कनक और हंसती इससे पहले ही एक जोरदार झापड़ उसके गाल पर पड़ गया ये झापड़ रोशनी का ही था,वो गुस्से में लाल थी लेकिन कनक को जैसे कोई भी प्रभाव नही पड़ा वो अभी भी मुस्कुरा रही थी,
“भाभी ऐसे भी भइया यंहा आने से रहे और विक्रांत के पास बहुत पैसा है हम दोनो ही ऐश करेंगे …”
कनक की आंखों में भी पानी था लेकिन फिर भी उसकी बातो में शरारत थी,
रोशनी उसके चहरे को देखती ही थी पता नही क्या था उस चहरे में जो वो खामोश हो गई ,तभी वो दासी बोल उठी
“अरे मालकिन कहा विक्रांत साहेब इनको छू पाएंगे ,ये तो प्राण साहब की रखैल बनाने लायी गई है “
कालिया से अब रहा नही गया वो अपना घूंघट खोलकर सबके सामने आ गया ,जिसे देखकर रोशनी कुछ कहने ही वाली थी लेकिन कनक ने उसका मुह दबा दिया ,रोशनी की आंखों में बस पानी था वो कालिया को और कालिया उसे देखे जा रहे थे ..
कालिया कुछ कह पाता इससे पहले ही रोशनी ने उसे चुप रहने का इशारा किया.पता नही ये क्या हो रहा था लेकिन कालिया ने कुछ भी नही कहा ,वो अपनी बीवी और बहन की आंखों में पानी और प्यार को देख सकता था ,लेकिन उसे बड़ा आश्चर्य भी हो रहा था की ये वही कनक है जो आंखों में उसके लिए इतना प्यार लिए हुए भी ये सब बोल पा रही थी …
“अरे विक्रांत साहब को तुम नही जानती ,उन्हें जो पसंद आ गया उसे वो ले कर रहेंगे,और ऐसे भी उन्हें भी तो ये साबित करना है की उनका लंड हमारे कालिया भइया से मजबूत है और वो तो भाभी के चुद में जाने से ही पता चलेगा की कौन सा लंड ज्यादा मजबूत है ..”
कनक ने दासी की बात का जवाब दिया लेकिन ये सब बोलते हुए उसने अपना सर नीचे कर लिया था,वो कालिया से नजर नही मिला पा रही थी ,कालिया को समझ आ चुका था की ये सब किसी ना किसी खेल का ही कोई हिस्सा है जिसे कनक और वो दासी मिलकर खेल रहे है और साथ ही उन्होंने रोशनी को भी मिला लिया है,रोशनी बस कालिया को देख रही थी उसके आंखों से निर्झर आंसू बह रहे थे लेकिन मुह से कोई भी आवाज नही आ रही थी ..
“लेकिन प्राण साहब कैसे मानेगे…”उस दासी की आंखों में भी ये सब देखकर आंसू आ चुके थे.
“वो तो विक्रांत ही जाने “
कनक ने हल्के से आवाज में कहा
“मैं दोनो की नही हो सकती किसी एक की होंगी अगर उन्होंने जबर्दस्ती करने की कोशिस की तो मैं अपनी जान दे दूंगी ..ऐसे भी उस बुड्ढे प्राण में रखा ही क्या है ,मुझे भी विक्रांत पसंद आया लेकिन ...इतनी जल्दी हा भी कैसे कहु “
रोशनी इतना ही बोल पाई साथ ही जब वो विक्रांत पसंद आया बोली तो अपना सर कालिया को देखकर ना में हिला रही थी,कालिया को उसपर बड़ा ही प्यार आया ,वो उसकी ओर बढ़ने ही वाला था की रोशनदान से एक साया सा दिखने लगा ,कालिया को समझते देर नही लगी की हो ना हो रोशनदान के पीछे कोई है ,वो झट से अपना घूंघट लगा लेता है ,और रोशनी के पास जाकर बैठ जाता है और उसके हाथो को पकड़ कर मालिश करने लगता है ,रोशनी के साथ साथ उस दासी और कनक के चहरे में भी एक मुस्कान खिल गई …
“लेकिन दोनो में से एक की होगी कैसे ???”
वो दासी फिर से बोली
“मुझे क्या पता ..दाई चलो मेरे पूरे शरीर की अच्छे से मालिश करो मुझे बड़ा थका थका लग रहा है ,मुझे क्या करना है जो मुझे जीतेगा मैं तो उसकी हो जाऊंगी ..”
रोशनी का चहरा अब खिल गया था और वो ये बोलते हुए थोड़ी हँसी थी ,
कालिया ने थोड़ा जोर लगाकर उसके कंधे को मसाला
“आह ..थोड़ा धीरे करो दाई “रोशनी की आह में बहुत ही प्यार भरा हुआ था,वो मचल गई थी ..कालिया का हाथ फिसलकर उसके स्तनों तक जा पहुचा ,वो हल्के हल्के उसे मसलने लगा .रोशनी ने उसे झूठे गुस्से से देखा और हल्के हाथो की चपत कालिया के कंधे पर मार दी ..
कनक और दासी इसे देखकर मुस्कुरा उठे…
“लगता है भाभी तुम खून खराबा करवाओगी …”कनक हँस पड़ी साथ ही रोशनी और दासी भी..
“चलो तुम दोनो जाओ यंहा से मुझे दाई से अच्छे से मालिश करवानी है ,अब विक्रांत ही जाने की उसे मुझे कैसे पाना है ,मैं भी देखती हु की इतनी बड़ी बड़ी बात करने वाले ठाकुर के सीने और लंड में आखिर कितनी ताकत है ,देखती हु अपने भाई के सामने खड़ा भी रह पायेगा या फुस्सी फटाके की तरह फुस हो जाएगा …”
रोशनी की बात पर बाकी दोनो लडकिया भी खिलखिला गई ,
“ठिक है भाभी ...दाई इनका अच्छे से मालिश करना हम दोनो बाहर जा रहे है “कनक इतना बोलकर रोशनदान का पर्दा खिंच देती है और कमरे में थोड़ा अंधेरा हो जाता है ,दोनो ही खिलखिलाकर बाहर निकल जाती है और साथ ही रोशनदान से वो छाया भी खिसक जाता है ……...
Reply
02-04-2020, 12:24 PM,
#29
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
रोशनदान के ढक जाने से आने वाला प्रकाश कम हो चुका था और उस मध्यम रोशनी में कालिया ने रोशनी के नंगे बदन को अपने बांहो में भर लिया,दोनो के होठ मिल चुके थे और एक दूसरे में गुम हो जाने की पूरी तैयारी उन्होंने कर ली थी ,दोनो नंगे जिस्म एक दूसरे में घुल रहे थे,कालिया को समझ आ चुका था की आखिर कनक और रोशनी ये नाटक क्यो कर रही है ,उन्हें पैसा नही चाहिए ना ही ये सुख सुविधाये वो तो बस विक्रांत को फंसा रही थी ताकि विक्रांत और प्राण के बीच में दरार पैदा हो जाए ……
कालिया का मन हल्का हो चुका था और दोनो ही एक दूसरे में समाने लगे,इतने दिनों के बाद वो एक दूसरे में मिल रहे थे वो भी इस आलीशान से कमरे में ,कालिया ने ठाकुर को धन्यवाद दिया की उसके कारण आज वो अपनी बीवी के साथ इतने अच्छे से मिल पा रहा था,इत्र की खसुबु से पूरा कमरा महक रहा था और साथ ही रोशनी के जिस्म से गुलाब की खुश्बू आ रही थी,कालिया कभी अपनी बीवी को ऐसी सुविधाये नही दे सकता था जो ठाकुर ने उसे दिया था,लेकिन इसका लाभ आज कालिया उठा रहा था …….

इधर
विक्रांत अपने कमरे में बैठा शराब पी रहा था,नशा उसके आंखों में उतरने लगा था,और साथ ही रोशनी का चहरा भी ,रोशनी ही रोशनी उसके आंखों में झूम रही थी ,उसके ईगो को ठेस पहुची थी और वो अब बस रोशनी को पाने को बेताब हो चुका था लेकिन कैसे ??
प्राण पहले से उसके ऊपर घात लगाए बैठा था ,और रोशनी ने तो सीधे ही कह दिया था की जो उसे जीत ले वो उसकी हो जाएगी ,रोशनदान से उसने पूरी बात सुन ली थी और अब वो बस रोशनी को किसी भी कीमत में पाने की चाह रखता था..उसके अंदर का ईगो उसे चैन से सांस भी लेने नही दे रहा था ..
विक्रांत के कमरे का दरवाजा खुलता है और उसका ध्यान छम छम की आवाज की ओर जाता है …
बिल्कुल नए दुल्हन सी सजी हुई परी उसके पास आ गई,
विक्रांत उसके चहरे को देखकर थोड़ा हड़बड़ाया ..
“भाभी आप ..?”
पुनम के चहरे में मुस्कान फैल गई
“क्यो मैं अपने देवर से मिलने नही आ सकती क्या “
“नही नही लेकिन आजतक तो कभी आप मेरे कमरे में नही आयी ..”
“हम्म आज आना पड़ा काम ही ऐसा था ..”
इतना बोलकर पूनम रो पड़ी ,विक्रांत उसे देखकर थोड़ा घबराया ,वो उसके पास ही जाकर बैठ गई ,विक्रांत उससे थोड़ा अलग हुआ ,और थोड़ा दूर खिसक गया...पूनम उसके चहरे को देखती रही ..
“क्या हुआ है आपको आप रो क्यो रही है ..”
“आप भी मुझसे दूर जा रहे है ना ,ऐसी क्या खराबी है मुझमें की सभी मुझसे दूर जा रहे है “
पूनम सिसकती हुई बोली
“कौन दूर जा रहा है..”
“आपके भइया..जब से वो डायन रोशनी हमारे घर आयी है बस उसी का नाम उनके जुबान पर है ,मेरी ओर तो पहले भी नही देखते थे ,बस अपना पानी निकालने मेरे पास आते है ,मैं उसे ही पति का सुख समझकर अपना मन मार लेती थी लेकिन अब ...जब से उसको देखा है तब से मेरी ओर देखते भी नही ..मेरी शादी को बचा लो देवर जी “
पूनम खिसक कर विक्रांत से सट गई,विक्रांत बुरी तरह से हड़बड़ाया,पूनम ने कभी उससे नजर भी नही मिलाई थी और आज वो उससे ऐसी बाते कर रही थी ,और साथ ही रोशनी का नाम लेकर पूनम ने विक्रांत को और भी भड़का दिया था..
“मैं ..मैं क्या कर सकता हु इसमें ,वो तो ठाकुर है जो चाहे कर सकते है,कई पत्नी रख सकते है ..”
विक्रांत की लड़खड़ा रही थी ,पूनम ने अपने साड़ी का पल्लू गिरा दिया,उसके उन्नत वक्ष विक्रांत के आंखों के ठीक सामने थे ,पूनम भी कम खूबसूरत नही थी हर अंग में कसाव लिए थी,और यही कारण था की प्राण ने उसे देखते ही पसंद कर लिया था..
“मुझमें क्या कमी है जो मैं तुम्हारे भाई को पसदं नही ..क्या मेरे पास उसके जैसे वक्ष नही है ,”
विक्रांत की नजर पूनम के वक्ष पर पड़ी ,एक सनसनी उसके शरीर में फैल गई,
पूनम ने अपने बालो को खोल फेका और ब्लाउज के ऊपर के दो बटन खोल दिए ,और विक्रांत का हाथ पकड़ कर अपने वक्षो के ऊपर लगा दिया
“कहिए ना क्या ये किसी से कम है ..”
विक्रांत अपनी भाभी की इस अदा को समझ ही नही पा रहा था की पूनम ने उसका हाथ अपने ब्लाउज में घुसा लिया,
“आह देवर जी आप सच्चे मर्द लगते हो मुझे आपके भइया तो बस फुस्सी बम है”
विक्रांत अपनी तारीफ सुनकर थोड़ा मचला लेकिन अपने भाई की पत्नी पर वो हाथ नही डालना चाहता था ,वो झट से उठकर खड़ा हो गया
“नही भाभी नही ..ये आप क्या कर रही हो “
पूनम गुस्से से उठ गई ,क्यो जब तुम्हारा भाई मुझे शांत नही कर सकता तो तुम क्यो नही मुझे शांत करते ,हर लड़की को तो वो अपने पास रख लेता है,मुझे कम उम्र में अपनी रखैल बना लिया ,और अब बस नाम की पत्नी,अब रोशनी को अपनी रखैल बनाएगा,कुछ करने का दम नही है तो फिर क्यो लड़कियों की जिंदगी से खेलता है,तुम्हें दे देता तुम कम से कम उन्हें संतुष्ट तो करते लेकिन नही तुम्हे देगा कनक जैसी रांड को जो पैसा देखकर खुद ही किसी के भी ऊपर खुद सकती है …
“भाभी “एक झन्नाटेदार झापड़ पूनम के गालो में पड़ा,लेकिन इससे पूनम को दर्द कम और मजा ज्यादा आया क्योकि वो जानती थी की विक्रांत पर जो तीर उसने फेका था वो सही जगह पर जाकर लगा है……...

कालिया वँहा से जा चुका था और आगे का प्लान कर रहा था,
इधर
प्राण ठाकुर इस चिंता में था की आखिर अभी तक कालिया आया क्यो नही ,वो जानता था की कालिया ऐसा आदमी ही नही है जो आसानी से चुप बैठ जाए ,उसे लगा की शायद वो हवेली की सुरक्षा को देखकर डर गया होगा,लेकिन प्राण को पता था की कालिया डरने वालो में से नही है …
यही बात उसने परमिंदर के कही ,
“आप हवेली की सुरक्षा थोड़ी कम कर दो और उसे अंदर जाने का मौका दो ,कुछ लोग चुपकर उस जगह पर रहेंगे जंहा से अंदर आया जा सकता है …”
“हम्म और अगर वो आया तो “
“तो उसे जाने देना “
पर्मिदंर की बात सुनकर प्राण सकते में आ गया
“हा सही कहा उसे जाने देना,अगर वो अपनी बीवी को लेकर नही जाता तो ...मुझे लगता है की इस हवेली में कई ऐसे लोग भी है जो आपके खिलाफ है,हवेली के बाहर के दुश्मन से तो हम निपट सकते है लेकिन हवेली के अंदर के दुश्मनों का क्या करेंगे ,इसका एक अच्छा उपाय है मेरे पास ,कालिया को अंदर जाने दो और देखो की कौन कौन उसकी मदद करता है ...और आखिर हवेली में ऐसा क्या चल रहा है जिसके कारण आपको कालिया जैसे इंसान से लड़ने में इतनी दिक्कतें हो रही है..”
प्राण परमिंदर के दिमाग की दाद देता नही थका….
और आखिर कालिया उसके जाल में फंस ही गया,कालिया वही से अंदर गया जंहा से प्राण चाहता था ,लेकिन प्राण को नई बात का पता चला की उसकी खुद की बीवी ही उसके खिलाफ है ,वो कालिया को जितना हो सके उतना सहयोग करता है ताकि वो हवेली के अंदर तक घुस सके ,परमिंदर ने ही पहरा हटवाकर उसे खिड़की तक पहुचाया लेकिन पता चला की कालिया की बीवी अभी उसने जाल में नही फसी है और प्राण की बीवी कालिया का लंड लेने में खुस है ,प्राण का खून ही खोल गया था लेकिन परमिंदर ने उसे चुप रहने की सलाह दी ………
उन्हें अब ये भी पता था की पूनम की एक दासी कनक से बात करती है और उसके साथ मिलकर उन्होंने प्राण और विक्रांत के बीच फुट डालने की तरकीब भी निकाल ली है ,कालिया के हवेली से जाने तक उन्होंने कालिया पर नजर रखी …
“हा हा हा साले मेरे और मेरे भाई के संबंधों में फुट डलवायेगे ,परमिंदर खेल का मजा तो अब आएगा “प्राण हँसते हंसते पागल सा हो गया था,शराब की एक पूरी बोलत उसने अपने अदंर कर रखी थी ..
जवाब में परमिंदर बस मुस्कुरा रहा था ……..
Reply
02-04-2020, 12:24 PM,
#30
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
कालिया वापस जा चुका था, कालिया के चहरे में एक खुसी थी जो उसके सबसे अच्छे साथी चिराग सिंग को समझ ही नही आ रही थी …
देसी दारू की बोलत लिया हुआ कालिया अपने में ही हँस रहा था,
“अबे तुझे क्या हो गया ,कनक और भाभी ठाकुर के गिरफ्त में है ,तेरे मां बाप को ठाकुर ने मार दिया और तू यंहा देसी पी कर मुस्कुरा रहा है ..”
कालिया ने हल्के से हंसते हुए उसे अपने पास बैठा लिया और पूरी कहानी बता दी ,चिराग कालिया के बचपन का दोस्त था,दोनो साथ ही बड़े हुए थे,ऐसे उसे इन सब को सुनकर खुस होना था लेकिन उसका चहरा तमतमा गया था,जिसे देखकर कालिया चुप हो गया …
“क्या हुआ तू यू गुस्से से क्यो भर गया”
“तू नामर्द है ...अपनी बीवी और बहन को रंडी बनाना चाहता है,क्या विस्वास की वो जो सोच रहे है कर ही पायेगें अगर नही कर पाए तो ..और भाभी तो बच ही जाए लेकिन कनक ,वो इतना गिर सकती है मैंने सोचा ही नही था…”
उसके आंखों में आंसू थे ,जो कालिया के समझ के परे था,
“चिराग मेरे दोस्त तू ही बता की हम क्या कर सकते है ..”
कालिया ने चिराग के कंधे पर हाथ रखा …
“मैं कनक को ये सब नही करने दूंगा ,तिवारी भइया से बात करता हु…”
चिराग के कनक की इतनी फिक्र करता देख कालिया कुछ सोच में पड़ गया,आज उसे समझ आया था की चिराग राखी के दिन उसके घर क्यो नही जाता था,वो उसकी मा को अपनी मा की तरह मानता था और पिता को अपना पिता ,उसने हमेशा ही रोशनी को मा जैसा दर्जा दिया लेकिन फिर भी वो कभी कनक को बहन नही कह सका...कालिया के होठो में एक मुस्कुराहट तो आयी लेकिन उसमे दर्द ही दर्द था,वो समझ चुका था की चिराग कनक से महोब्बत करता है….

*************
“ये एक जाल है ,वरना हवेली में घुसना इतना आसान तो नही हो सकता “
डॉ चुतिया गंभीर थे,
“वही तो मैं भी इसे समझा रहा हु “चिराग बोल पड़ा
दोपहर का वक्त था और झील के किनारे जंहा जंगल की देवी की छोटा सा मंदिर था एक गुप्त सभा हो रही थी जिसमे तिवारी और डॉ चुतिया भी शामिल थे …
“लेकिन मुझे तो कोई भी ऐसी बात नही लगी जिसमे खतरा हो..”
“यही तो समझ के परे है की ठाकुर इतना बेफिक्र कैसे हो सकता है जब की उसके पास परमिंदर जैसा वजीर हो “
डॉ का तर्क कालिया के भेजे में घुस गया ..
“तो अब..”
कालिया के साथ साथ बाकी के सभी सदस्य डॉ की ओर देखने लगे
“हम्म्म्म तो अब….अगर उसने तुम्हारी जासूसी की होगी तो यकीन मानो की उसे सब कुछ पता होगा की तुम किससे किससे मिले क्या क्या किया ,लेकिन फिर भी उसने तुम्हे सही सलामत जाने दिया इसका मतलब है की वो तुम्हारे जरिये हवेली में छुपे अपने सभी दुश्मनों ढूंढना चाहता है,वरना और तो कोई कारण नही दिखता,अब वो अपनी बीवी पर भी नजर रखे होगा,मेरे ख्याल से अगर अभी प्राण से सबसे ज्यादा खतरा किसी के है तो वो है पूनम को होगा …
तो हमे पहले उसके जाल का फायदा उठाना चाहिए और अपना जाल उसके जाल से बदल देना चाहिए …”
डॉ की बात सुनकर सभी भौचक्के थे ..
“उसका जाल यानी वो तुम्हे हवेली में उस खास रास्ते से आने जाने से नही रोकेगा...मतलब की कोई ऐसा होगा जिसे तुम्हारे आने का पता होगा,फिर तुम हवेली में जंहा जाओगे वहां भी तुम पर नजर रखने को कोई होगा,ठाकुर को हवेली के गद्दार चाहिए मतलब की वो ये सब काम अपने कुछ खास लोगो से ही करवा रहा है ,सभी को इसके बारे में नही पता,तो अगर तुम उसके उन खास लोगो को पहचान लो जो की तुमपर नजर रखने के लिए नियुक्त किये गए है तो …….”
“तो…..”
कालिया समझने की कोशिस कर रहा था
“तो तुम कनक और रोशनी को आराम से बाहर ला सकते हो,क्योकि ठाकुर ने उस एक जगह पर ही पहरा हटाया है ताकि तुम्हारे आने का पता सिर्फ उसके खास लोगो को ही पता चल पाए...तो अगर वो खास लोग ही ना रहे हो फिर नजर कौन रखेगा ,तुम्हारा रास्ता साफ होगा ,क्योकि ठाकुर ने खुद ही उस जगह से पहरा हटाया है ……”
कालिया तो झूम गया लेकिन डॉ ने उसे रोका
“ये काम एक दिन में नही हो सकता की तुम उन लोगो को पहचान पाओ तो तुम्हे बहुत ही धैर्य रखना होगा साथ ही इस बात की भनक की हमे ठाकुर के इरादे का पता है किसी को नही होना चाहिए तुम वैसे ही जाओगे जैसे कल गए थे ,बिल्कुल ही छुपकर ,और बाहर से तुम्हारा कोई आदमी इस बात की नजर राखेगा की तुम्हारे जाने से वँहा क्या क्या परिवर्तन होता है ,ताकि उसके लोगो का पता चल सके की वो कहा छुपे हुए है,और हा ये कुछ दिन तक रोज करना होगा क्योकि तभी साफ पता चल पायेगा की कितने लोगो को ठाकुर ने इस खास काम के लिए नियुक्त किया हुआ है…..”
डॉ की बात पर सभी ने सर हिला दिया ..
“लेकिन उसका क्या जो पूनम और कनक सोच रही थी की भाई से भाई को लड़ा दिया जाय ..”कालिया को अभी भी ये लगता था की वो प्लान भी सही है..
डॉ उसकी बात सुनकर मुस्कुरा दिया
“ठाकुर प्राण सिंह इतना बड़ा चुतिया नही है की एक लड़की के लिये अपने भाई को मार दे...लेकिन हा अगर विक्रांत लड़की के चक्कर में आकर प्राण को मारने की कोशिस करे तो ये जरूर होगा की विक्रांत नही बचेगा ...तो उनके चक्कर को छोड़ो,तुम रोशनी ,कनक और पूनम तीनो को बाहर ले आओ…”
कालिया ने हा में सर हिलाया
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Incest Kahani मेरी भुलक्कड़ चाची sexstories 27 3,658 8 hours ago
Last Post: sexstories
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा sexstories 85 147,274 02-25-2020, 09:34 PM
Last Post: Lover0301
Star Adult kahani पाप पुण्य sexstories 221 954,241 02-25-2020, 03:48 PM
Last Post: Ranu
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान sexstories 119 87,918 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post: sexstories
Star Kamukta Kahani अहसान sexstories 61 227,220 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post: lovelylover
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) sexstories 60 149,136 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post: lovelylover
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा sexstories 228 788,934 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post: lovelylover
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 sexstories 146 94,142 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार sexstories 101 212,836 02-04-2020, 07:20 PM
Last Post: Kaushal9696
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर sexstories 88 108,297 02-03-2020, 12:58 AM
Last Post: Kaushal9696



Users browsing this thread: 4 Guest(s)