kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
02-04-2020, 12:24 PM,
#31
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
वर्तमान में
फोन के घनघनाने की आवाज से अजय का ध्यान टूटा और साथ ही चम्पा का भी ..
अजय ने अपने फोन को अजीब निगाह से देखा
“साला यंहा तो टॉवर ही नही मिलता और आज जब इतनी इंटरेस्टिंग कहानी सुन रहा हु तो पता नही कहा से फोन आ गया “
अजय ने फोन काट कर फिर से चम्पा की ओर देखा
“तुम्हे ये सब कहानी लग रही है ,जाओ मैं कुछ नही बताती “
“अरे मेरी जान मेरा मतलब वो नही था ,मैं जानता हु की ये सब सच में हुआ था ..”
तभी फोन फिर से बजा ,अजय ने उसे उठा लिया
“क्या जी सर “वो अब खड़ा हो चुका था
“जी जी जी सॉरी सर जी सर…”
उसने फोन काटा
“इसकी मा की “
“क्या हुआ ??”चम्पा के चहरे में एक डर आ गया
“कुछ नही बस साली मोंगरा ने फिर से एक कांड कर दिया ..”
“क्या हुआ …???”
“SP साहब का फोन था,विक्रांत की बीवी को मार दिया गया है जो की शहर में रह रही थी ,”
“नही बुआ …”चम्पा खड़ी हो गई उसके आंखों से आंसुओ की धार टपकने लगी
“बुआ ????? विक्रांत ठाकुर की पत्नी यानी कनक “
चम्पा ने हा में सर हिलाया
“कैसे “
“अभी कुछ नही बता सकती आप जल्दी जाओ ..और ये काम मोंगरा का नही हो सकता वो बुआ से बहुत ही प्यार करती थी ,ये काम जरूर ठाकुर ने किया होगा “
वो सुबक रही थी ,
“मोंगरा ठाकुर को कभी नही छोड़ेगी “
चम्पा ने सुबकते हुए ही कहा ,कुछ देर के लिए अजय बस उसे देखता ही रह गया ……

*************
शहर का थाना प्रभारी जांच में जुटा हुआ था ,अजय के जाते ही पहले उसने उसे पकड़ लिया ,
“अबे यंहा इतना बड़ा कांड हो गया तू अभी आ रहा है ..”
“अरे सर मुझे जैसे ही पता चला मैं दौड़ा चला आया ,लेकिन ये तो आपके एरिये का केस है मुझे क्यो बुलाया “
“क्योकि वो डकैत तो तेरे एरिये की है ,और जमीदार साहब ने इस्पेसल तुझे बुलवाया है …जल्दी जा साहब भड़के हुए है “
अजय को पहले तो सभी ने अजीब निगाह से देखा लेकिन जब ठाकुर ने उसे अपने पास बुलाया और उसके कन्धे पर हाथ रखा सभी की आंखे और भी फैल गई ..
“उसे पकड़ने की कितने करीब पहुचे ??”
ठाकुर का पहला प्रश्न था
“समझलीजिये साथ ही सोता हु “
ठाकुर ने अजय को अजीब निगाहों से देखा
“जब कालिया को आप अपने घर में ही नही पकड़ पाए तो थोड़ा धैर्य रखिये अभी अभी तो आया हु,थोड़ा समझने तो दीजिये ,इतने सालो में क्या हुआ ,कनक आखिर विक्रांत की बीवी कैसे बन गई ???”
प्राण के होठो में मुसकान आ गई
“लगता है तुम ये काम कर ही लोगे जिसके लिए तुम्हे बुलाया गया है,आज तक किसी को ये बात पता नही चल पाई थी की कालिया मेरे घर आता था,तुमने तो बहुत कुछ पता कर लिया “
अजय थोड़ा हंसा
“सब इसका कमाल है “
उसने नजर नीचे करके अपने पेंट की तरफ इशारा किया ,प्राण भी हँस पड़ा लेकिन फिर उसे ख्याल आया की वो कहा है ,प्राण अजय को ले कर थोडा दूर हट गया ..
“इसी के चक्कर में मेरे भाई ने उस रांड से शादी कर ली,साला मुझे मरना चाहता था आज देखो ,खुद की बीवी मरी पड़ी है और लड़कियों के जैसे रो रहा है…”
अजय ने उस ओर देखा एक अधेड़ आदमी सिसक रहा था साथ ही एक और लड़की थी जो उम्र चम्पा जितनी ही लग रही थी वो भी उससे लिपटे हुए रो रही थी,
“ये विक्रांत और उसकी बेटी है…”
“ह्म्म्म तो कनक को अपने मरवाया है ..”
अजय ने मुस्कुराते हुए प्राण की ओर देखा
प्राण के चहरे में भी मुस्कुराहट आ गई
“बहुत खूब तुम आदमी तेज हो ,साली बहुत तकलीफ दे रही थी,हवेली और जायजाद तो पहले ही छोड़ दिया था इन्होंने,भाई की खातिर इन्हें जिंदा भी रखा और यंहा घर भी दिया,इनकी बेटी को भी कम्प्यूटर साइंस से इंजीनियरिंग करवाया , लेकिन पता चला की इसने मोंगरा को शरण दिया था ,और वो यंहा रह कर मुझे मारने की प्लानिंग कर रही थी ,साला अब मेरे बेटे से नही रहा गया ,ठोक दिया साली को “
अजय ने फिर से उस लड़की की तरफ देखा ,बड़ी ही मासूम थी लेकिन आंखे लाल ..शायद रो रो कर या फिर गुस्से में ???
वो अजय को ही घूर रही थी ,जैसे उसे खा जाएगी ..
अजय ने तुरंत ही आंखे मोड़ ली ..
“मुझे इस लड़की के तेवर कुछ सही नही लग रहे “
अजय तुरंत ही प्राण से कह गया
“जानता हु,गुस्सा तो उसके खून में है,विक्रांत की बेटी जो है ..और जब उसकी मा का कातिल उसके सामने खड़ा हो तो गुस्सा तो उसे आएगा ही “
अजय चौका ..
“मतलब उसे पता है “
“इन दोनो के सामने ही तो मारा था ,लेकिन फिक्र मत करो कोई कुछ नही कहेगा,विक्रांत का एक छोटा बेटा भी है जो की होस्टल में रहता है और हमारी निगरानी में है ,बाकी तो तुम समझ ही गए होंगे “
अजय मन ही मन ठाकुर को गालियां देता है लेकिन चहरे में बस एक मुस्कान ले आता है ,और फिर से उस लड़की को देखता है ,उसे देखकर ही उसे आभस हो गया की कनक कितनी सुंदर रही होगी ,पतली दुबली सी लंबी लड़की बड़ी बड़ी आंखों वाली,दूध सी गोरी लेकिन अभी चहरा लाल था ,उसके तेवर से ही लग रहा था की वो कितनी गुस्सेल है,लेकिन फिर भी अजय को बहुत ही प्यारी लगी,उसकी साली जो थी …
प्राण अजय को देखता रहा
“क्या हुआ लड़की भा गई क्या “
अजय बुरी तरह से झेंपा
“फिक्र मत कर अगर मेरा काम कर दिया तो दोनो तेरे “
“दोनो ???”
“हा तेरी चम्पा और ये साली रांड की औलाद भावना ,रखैल बना कर रख लेना दोनो को ..”
‘भावना ‘अजय ने मन में ही दोहराया ,लेकिन उसे प्राण पर गुस्सा भी आया ,क्योकि भावना रिश्ते में उसकी बेटी जैसे थी …

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
02-04-2020, 12:24 PM,
#32
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
ठाकुर और बाकी के पुलिस वालो के जाने के बाद अजय फिर से कनक के घर में गया…
“क्यो आये हो यंहा “
भावना चिल्लाई
“थोड़ी तहकीकात करनी है “
अजय ने अपनी पुलिसिया अकड़ में कहा
“देखो अभी हम बहुत दुखी है,अभी हम कुछ भी कहने की स्तिथि में नही है “
विक्रांत जो की कभी बहुत ही गुस्सेल हुआ करता था अब बहुत ही शांत दिख रहा था...उसने ही भावना को आगे बढ़ने से रोक लिया था …
“लेकिन पुछताज तो करनी ही पड़ेगी “अजय का अंदाज अब भी वही था..
“कितने कमीने हो तुम “
भावना फिर से चिल्लाई ,
“ये जानते हुए भी भी की मा को किसने मारा है तुम यंहा पुछताज करने आ गए...दीदी तुम्हारे बारे में गलत थी तुम तो ठाकुर से मिले हुए हो ,दीदी तुम दोनो को नही छोड़ेगी “
अजय सोच में पड़ गया की क्या मोंगरा ने उसे सब बता दिया था ..
“अच्छा तो दीदी से तुम्हारी अच्छी बनती है,”अजय थोड़ा रुका
“तब तो तुम मेरी साली हुई “
अजय के मजाक से किसी को हँसी तो नही आयी लेकिन दोनो ही उसे घूरने लगे ..
“क्यो मोंगरा ने सब कुछ नही बताया क्या ??”
दोनो ही एक दूसरे का चहरा देखने लगे
“तुम गद्दार हो,इधर दीदी के साथ प्यार की बाते करते हो और उधर ठाकुर के साथ वफादारी दिखा रहे हो “
भावना की आवाज इस बार थोड़ी ठंडी थी ..
“समझा करो मुझे ठाकुर से दोस्ती करके रखनी पड़ती है ,वरना मेरे स्थान पर कोई दूसरा आ जाएगा,और मैं तुम्हारी दूसरी दीदी के बारे में बात कर रह हु ,चम्पा की , ना की मोंगरा का “
उसकी बात सुनकर दोनो ने फ्रिर से एक दूसरे को देखा ,विक्रांत खड़ा होकर उसके पास पहुचा ..
“तुम आग से खेलने की कोशिस कर रहे हो,चम्पा को भूल जाओ क्योकि मोंगरा तुमसे बेहद प्यार करती है,मोंगरा तुम्हे पाने के लिए कही चम्पा को ही ना मार दे,कनक उसे समझा के थक गई लेकिन …..वो किसी की बात सुनती ही कहा है …”
“तब तो मेरे लिए और ही आसान हो जाएगा ,मोंगरा को खत्म करना और ठाकुर को भी ..”
अजय इतना ही बोलकर वँहा से निकलने ही वाला था की उसकी नजर एक पुस्तक में पड़ी अजय कुछ देर उसे ध्यान से देखकर उसके पास पहुचा और पुस्तक में फंसे हुए एक चमकीले कागज को खिंच लिया ,वो एक तस्वीर थी जिसमे मोंगरा हाथो में बड़ी सी पिस्तौल लिए दिख रही थी ..लेकिन अजय उसे और देख पाता उससे पहले ही भावना दौड़ी आयी और उसके हाथो से वो फ़ोटो खिंच लिया …...अजय उसकी इस अदा पर हल्का सा मुस्कुराया और घर से निकल गया …...
**********
Reply
02-04-2020, 12:24 PM,
#33
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
रात अंधियारे में छोटे से दिए की लालिमा में मोंगरा का नंगा शरीर चमक रहा था,बाल बिखरे हुए थे,और बलवीर का नंगा देह उसके शरीर के बाजू में पड़ा था,अभी बलवीर का मुह मोंगरा के स्तन से दूध पी रहा था,और मोंगरा उसके बालो को सहलाते हुए किसी ख्वाब में खोई हुई थी..
“उसने मेरी बुआ को मार डाला बलबीर ,और मैं कुछ भी नही कर सकी,उसने बुआ को मेरे कारण मारा ..”
बलवीर चहरा उठा कर उसकी ओर देखता है,मोंगरा के आंखों में आंसू नही थे लेकिन आंखे कही खोई हुई जरूर थी ,
“मैं अजय के बांहो में थी और उसने …”
“मैंने पहले ही कहा था की इस इंस्पेक्टर के चक्कर में मत पड़ो लेकिन तुम तो मेरी बात सुनती ही नही,क्या मैं तुम्हे प्यार नही करता,क्या बाकी के गिरोह के लोग तुम्हे प्यार नही करते...और अगर जिस्म में भूख है तो बोलो ये बलवीर तुम्हारे जिस्म को निचोड़ कर रख देगा,तुम्हारी हर प्यास को बुझा देगा “
बलवीर बोलते हुए उत्तेजित हो गया था,उसकी आवाज कांप रही थी,गुस्सा उसके चहरे पर साफ साफ झलक रहा था,लेकिन मोंगरा के होठो में उसके बात को सुनकर बस मुस्कान आयी ,और उसने बलवीर के कड़े लिंग को अपने नरम हाथो में ले लिया जो की किसी हल्के गर्म लोहे की रॉड की तरह मजबूत और गर्म था,
मोंगरा ने बलवीर के कमर को हल्के से धक्का दिया बलवीर ने इशारा समझा और अपने कमर को मोंगरा के कमर के ऊपर ले आया,मोंगरा ने उसके उस रॉड की तरह तने हुए लिंग को अपने हाथो से पकड़ कर अपनी योनि में रगड़ा जो की अभी पूरी तरह से गीली तो नही थी लेकिन लिंग के आभस से थोड़ी गीली हो गई थी ,इशारा समझ बलवीर ने भी हल्के से अपनी कमर को मोंगरा के कमर पर टिकाया और लिंग उसकी योनि की गहराई मे धसता चला गया…
मोंगरा की आंखे बंद हो चुकी थी और उसके हाथ बलवीर के बालो को जकड़ चुके थे ,बलवीर हल्केहल्के ही सही लेकिन ताकतवर धक्के दे रहा था,
“आह आह मैं ठाकुर को नही छोडूंगी बलवीर नही छोडूंगी ..आह आह ,तुम मेरे साथ हो ना मेरे बच्चे ..”
“हा हा हा मरते दम तक तुम्हारे साथ हु ,आह “
बलवीर की कमर तेज होने लगी थी,और मोंगरा के आंखों से आंसू की बूंदे टपकने लगी,बलवीर किसी जानवर की तरह पूरी ताकत लगा कर मोंगरा के योनि पर प्रहार किये जा रहा था,उसका विशाल शरीर मोंगरा को मसल रहा था,और मोंगरा के पूरे शरीर के अपने अंदर समाया हुआ था,
“आह उस मादरचोद अजय को भी जान से मार दूंगा तुम्हे छूने की हिम्मत कैसे की उसने आह आह “
बलवीर अब उत्तेजना के शिखर पर पहुच चुका था,
मोंगरा के आंखों में तो आंसू थे लेकिन होठो में बलवीर की बात सुनकर मुस्कुराहट आ गई ,उसने बलवीर के बालो को जोरो से खिंचा और और उसके मुह को अपने छातियों से लगा ली ,बलवीर पूरी शिद्दत से उसके वक्षो को अपने मुह में भरकर अपने दांतो को गाड़ने लगा …
दर्द और मजे में मोंगरा चीखे जा रही थी और उत्तेजना के शैलाब में बलवीर और मोंगरा एक साथ ही ढेर हो गए,बलवीर का गाढ़ा गाढ़ा वीर्य अब मोंगरा के योनि से बह कर बाहर निकल रहा था,बलवीर मुर्दों की तरह मोंगरा के ऊपर लेट गया था ,और मोंगरा भी लाश सी अपनी सांसों को सम्हाल रही थी ……...
Reply
02-04-2020, 12:24 PM,
#34
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
मोंगरा की नजर अब भी छत को देख रही थी ,बलवीर उसके बाजू में नींद की आगोश में जा चुका था,लेकिन मोंगरा की आंखों में नींद ही नही था,वो अपने अतीत की यादों में खोई थी ,जब मॉंगर और बलवीर एक साथ ही खेला करते थे,बलवीर उससे बचपन से प्यार करता था,अपने पिता के लाख मना करने के बाद भी उससे मिलता ,आखिरकार परमिंदर ने उसे टोकना भी छोड़ दिया ,लेकिन वो जानता था की वो कालिया की बेटी है,उस हवेली में उसे कोई भी पसंद नही करता था,और मोंगरा का सबसे बड़ा दुश्मन था ,ठाकुर रणधीर सिंह…
रणधीर प्राण का इकलौता बेटा था,और लगभग बलवीर की उम्र का,प्राण और परमिंदर दोनो ही चाहते थे की बलवीर रणवीर का वादफ़ादार बने जैसा की परमिंदर प्राण का वफादार था लेकिन वक़्त को कुछ और ही मंजूर था बलवीर अपने से 15 साल छोटी मोंगरा के साथ खेला करता था,बलवीर को हमेशा ही मोंगरा की ही फिक्र रहती थी,ताकत तो बलवीर में भी परमिंदर जैसी ही थी ,लेकिन वो ताकत मोंगरा की रक्षा के लिए ही खर्च होती थी,लोगो को लगता था की बलवीर मोंगरा को अपनी बहन समझता है ,शायद हा भी और ना भी क्योकि वक़्त के साथ साथ जब मोंगरा जवान हुई तो सब कुछ बदलने लगा,रणवीर और बलवीर दोनो ही मोंगरा की जवानी के पीछे दीवाने होने लगे थे,मोंगरा थी ही इतनी आकर्षक ,कम उम्र में ही उसके जिस्म में भराव आने लगा था,बलवीर तो उसे दिल से चाहता था लेकिन रणवीर की निगाहे उसके जिस्म में रहती थी ,वो भी उससे 15 साल बड़ा था और ना जाने कितनी लड़कियो की इज्जत उसने अपने हाथो से उतारी थी ,लेकिन मोंगरा कभी उसके हाथ नही आती थी,उसके बीच का सबसे बड़ा रोड़ा था मोंगरा की मा और बलवीर…
मोंगरा पलट कर बलवीर के तरफ देखती है जो की उसके बाजू में सोया हुआ था ,सही मायने में मर्द था बलवीर ,चौड़ी छाती ,गठी हुई भुजाएं ,ताकत का जीता जाता नमूना लेकिन मन से बिल्कुल ही बच्चा,खासकर मोंगरा के लिए तो वो बच्चा ही था,मोंगरा के मन में उसे देखकर बेहद प्यार उमड़ गया उसने थोड़ा आगे बढ़कर बलवीर के गालो को चूम लिया ..
अभी उसके शरीर से पसीना बह रहा था और कमरे में जल रहे छोटे से दिए की रोशनी में बलवीर का पूरा नंगा शरीर चमक रहा था,मोंगरा उसके चहरे को ही निहारे जा रही थी,क्या क्या नही किया बलवीर ने उसके लिए ,उसे तब सहारा दिया जब कोई अपना उसके साथ नही था,अगर वो नही होता तो ….तो शायद वो भी नही होती …
मोंगरा को अब अजय की याद आयी,ये बलवीर था जो मोंगरा से प्यार करता था और वो अजय है जिससे मोंगरा प्यार करती है …
मोंगरा की आंखों में फिर से पानी आ गया,उसे याद आया की कैसे वो दिन भर अजय की बांहो में चम्पा बनकर पड़ी रही और ठाकुर ने उसकी बुआ को मरवा दिया,बुआ ने ठिक ही कहा था की अजय को चम्पा की ही रहने दे ,शायद एक डाकू के नसीब में एक पुलिस वाले का प्यार नही था,होता भी कैसे अजय तो चम्पा से प्यार करता हैं ना ही मोंगरा से …
मोंगरा से तो बलवीर प्यार करता है वो भी बिना किसी शर्त के ,बिना कुछ मांग के,.
बलवीर ने तो आज तक कभी मोंगरा से उसका जिस्म भी नही मांगा लेकिन मोंगरा ही थी जो उसके प्यार को देखकर ही उसे अपना सब कुछ देने को तैयार हो गई थी ,और आज भी वो यही सोच रही थी की बलवीर के लिए ये जिस्म क्या ये जान भी दे दु तो कम होगा,
जिस्म का भोग बलवीर को लगा कर वो बलवीर के अंदर के जानवर को थोड़ा शांत रख पाती थी,लेकिन बलवीर खुद से कभी आगे बढ़ने की कोशिस नही करता और करता तो भी मोंगरा के एक बार रोकने पर ही रुक जाता,मोंगरा उसे प्यार से देखती जैसे एक मां अपने भूखे बेटे को देखती है,और उसे अपने जिस्म का भोग वैसे ही करवाती जैसे एक मा अपने बेटे को खाना खिलाती है,बलवीर किसी भूखे कुत्ते सा मोंगरा के ऊपर टूट पड़ता था,लेकिन वो मोंगरा ही थी जो बलवीर के ताकत को ना सिर्फ सह पाती थी बल्कि अपनी जिस्मानी और मानसिक जरूरतों के हिसाब से उसे नियंत्रित भी कर सकती थी …
मोंगरा का ध्यान अपने योनि के ऊपर गया जिससे अब भी बलवीर का गढ़ा वीर्य समाया हुआ था,उसने पास ही पड़े एक कपड़े से उसे पोछना चाहा लेकिन फिर ना जाने क्यो रुक गई,वो बलवीर से सटी और उसके गालो पर प्यार से हाथ फेरा..
उसे कुछ आहट सी सुनाई दी ,जब मोंगरा ने उस ओर देखा ,लेकिन फिर बेफिक्री से बलवीर के सीने में एक चुम्मन किया ,
बलवीर थोड़ा मचला ,और मोंगरा ने उसे अपने पास और भी जोरो से खिंच लिया ..बलवीर की आंखे खुल गई..
मोंगरा ने फिर से बलवीर के लिंग को पकड़ा जो की सोया हुआ होने के बावजूद भी इतना बड़ा लग रहा था की किसी लड़की की गहराई में पहुच जाए ,
मोंगरा के हल्के हाथो से सहलाने से उसका लिंग फिर से फुंकार मारने लगा,मोंगरा अपने होठो को बलवीर के कानो के पास ले गई,
“और घुसना है क्या “
बलवीर की नजर वैसे ही ललचाई थी जैसे किसी बच्चे की चाकलेट को देखकर ललचाती है…
मोंगरा को उसकी उस नजर को देखकर ही हँसी आ गई ,और उसके लिंग के पकड़ कर अपने सिर को नीचे किया,
जैसे बलवीर जन्नत में पहुच गया हो ,मोंगरा के होठो की गर्मी से उसका लिंग फिर से फुंकार मारने लगा था ,मोंगरा ने अब फिर से लिंग को उसी योनि में डाल लिया जिसमे अब भी बलवीर का वीर्य भरा हुआ था,बलवीर को अपने ही वीर्य का ठंडा अहसास हुआ और ये सोचकर ही उसके लिंग में अधिकतम अकड़ आ गई की अभी तक मोंगरा ने उसके वीर्य को साफ नही किया था…
दोनो की कमर फिर से मिल गई और दोनो फिर से एक अलग दुनिया की सैर में निकल पड़े ……..
Reply
02-04-2020, 12:25 PM,
#35
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
मोंगरा अभी बलवीर की आगोश में थी वही अजय अपने ही ख्यालों में खोया हुआ था,रात का सन्नाटा उसे सोने नही दे रहा था,वो बेचैन था,हर एक कड़ी को जोड़ने की नाकाम कोशिस करता हुआ वो और भी बेचैन हो जाता था …
आखिरकार कुछ पेग पी लेने के बाद वो अचानक ही अपने कुर्सी से उठ खड़ा हुआ और ना जाने क्या सोचकर कही निकल गया,जंगलों के बीच उसकी साइकिल चल रही थी ,उस सुनसान जंगल के उबड़खाबड़ रास्ते के लिए ही उसने ये छोटी सी स्पोर्ट साइकिल की थी,जुगनुओं की झिंगुरिओ की आवज से माहौल और भी डरावना हो रहा था लेकिन अजय के दिमाग में कोई भी डर नही था,वो बेख़ौफ़ था,लेकिन अधीर भी ,उसके दिमाग में बार बार वही तस्वीर आ रही थी जिसे उसने आज विक्रांत के घर में देखा था,वो मोंगरा की तस्वीर जिसमे वो एक बड़ा सा पिस्तौल लिए खड़े थी ,और पीछे का वो मंदिर ….
पहाड़ की चोटी में बना हुआ वो मंदिर ऐसे तो तस्वीर में बहुत ही छोटा सा दिखाई दे रहा था लेकिन फिर भी वो अजय के दिमाग में बस चुका था और वो मोंगरा की उस मंदिर से दूरी का अंदाजा लगा रहा था,तस्वीर पहाड़ी के नीचे से नही बल्कि सीधी ऊँचाई से खिंची गई थी ,मतलब था की किसी दूसरी पहाड़ी से ,क्योकि तस्वीर में वो मंदिर मोंगरा के नीचे दिख रहा था,मतलब की आसपास की कोई पहाड़ी जो की उस मंदिर वाली पहाड़ी से ऊंचा होगा,अजय इतने देर से यही सोच रहा था की आखिर वो कौन सी पहाड़ी होगी जंहा मोंगरा अपने पूरे गैंग के साथ छुपी होगी ..
ऐसे तो उसे सुबह तक का इंतजार करना था लेकिन ये उत्तेजना ही उसे सोने नही दे रही थी और वो अपनी साइकिल लेकर निकल पड़ा था…
दो घंटे की मसक्कत के बाद वो उस मंदिर वाली पहाड़ी के नीचे खड़ा था और ध्यान से बाकी सभी पहाड़ी को देख रहा था,उसने अपना मोबाइल निकाला और मेप से आसपास की ऊची पहाड़ी खोजने लगा,मोबाइल की रोशनी से आसपास के कीड़ो ने उसे जरूर परेशान किया लेकिन आखिर उसे समझ में आ ही गया की क्यो मोंगरा ने उस जगह को चुना होगा…
अपनी साइकिल झड़ियो में छिपा कर वो पहाड़ में चढ़ना शुरू कर दिया ,बड़े छोटे पत्थरो का सहारा लेकर वो आगे बढ़ता गया,चांद की रोशनी ही उसकी मददगार थी ,एक पत्थर के ऊपर सोए हुए बंदुखधरि को देखकर उसे ये निश्चित हो गया की मोंगरा यही कही होगी…..
परिस्थिति तो ऐसी थी की उसे डरना चाहिए था लेकिन फिर भी उसके दिल दिमाग में ऐसा जनून था की उसे डर लेशमात्र भी नही हो रहा था,वो खुद भी अपने किये पर अचंभित हो रहा था वो मंजिल की ओर ऐसे बढ़ रहा था जैसे कोई शक्ति ही उसे उस ओर खिंच रही हो …
वो पहाड़ी के बीच तक आ चुका था,कुछ घोड़े और समतल जगह भी उसे दिखाई दे गई ,एक छोटे से गुफा नुमा जगह से कुछ रोशनी छन कर आ रही थी जैसे अंदर दिया जलाया गया हो,और बाहर बस लकड़ियों से बनाया गया एक दरवाजा था जिससे अंदर देख पाना बहुत ही आसान था ...वो हल्के कदम से और बहुत ही आहिस्ते आहिस्ते उस ओर बड़ा ,अंदर का नजारा देखकर वो दंग ही रह गया ,क्योकि अंदर उसकी सपनो की रानी पूरी नंगी किसी और लंबे चौड़े मर्द के साथ लेटी हुई दिखाई दी…
वो वही लड़की थी जिसके आगोश में उसने पूरी सुबह से दोपहर बिताई थी या वो इसकी जुड़वा बहन थी ,अजय दोनो में बिल्कुल भी फर्क नही कर पा रहा था,अभी मोंगरा छत को देख रही थी जैसे किसी ख्याल में खोई हो …
पुलिस रिकार्ड को याद करके अजय को याद आया की मोंगरा के बाजू में सोया हुआ शख्स कोई और नही बल्कि मोंगरा का वफादार और परमिनन्दर का बेटा बलवीर है..
मोंगरा उसके ओर पलटी और बलवीर को प्यार भरी निगाहों से देखने लगी,
अजय को पता नही क्यो लेकिन इतनी जलन सी महसूस हुई की वो वँहा से जाने को हुआ और इसी में एक गलती उससे हो गई वो दरवाजे से टकरा गया,अचानक ही मोगरा पलटी और जैसे दोनो की नजर मिल गई,..
अजय तो जैसे किसी मूर्ति सा स्थिर हो गया था,मोंगरा ने थोड़ी देर ही उसे घूरा जैसे उस अंधेरे में देख रही हो की वो कौन था और अनायास ही उसके होठो में मुस्कुराहट सी आ गई ..वो बलवीर की ओर हुई और उसकी छाती को चूमने लगी …
अजय ये समझ नही पा रहा था की मोंगरा ने उसे देखा की नही ,कमरे में पर्याप्त रोशनी थी की अजय मोंगरा को देख पा रहा था वही बाहर चांद ने इतनी रोशनी बिखेर दी थी कोई शख्स किसी को देखकर पहचान जाए लेकिन इतनी भी नही की उस लकड़ी के दरवाजे के बाहर से झकता हुआ शख्स अंदर से दिखाई दे जाए …
लेकिन अगर मोंगरा ने अजय को नही देखा तो वो मुस्कुराई क्यो ???
ऐसा अजय को क्यो लगा की मोंगरा उसकी आंखों में ही देख रही थी ..
अजय बस इसी सोच में था की बलवीर भी उठ गया था और दोनो की प्रेम लीला चालू हो गई थी ,मोंगरा ने बलवीर के लिंग को अपने मुह में ले लिया था और उसकी आंखे बार बार उस आंखों से मिल जाती थी जो की बाहर से उन्हें झांक रहा था ….
अजय के दिल में तेज दर्द सा होने लगा था,एक अजीब सी जलन उसके अंदर होनी लगी,मन किया की अभी पिस्तौल निकाल कर दोनो ही उड़ा दु ,लेकिन ...वो फिर से घबराया,वो जल्दबाजी में पिस्तौल ही भूल आया था,जब जब मोंगरा और अजय की आंखे मिलती थी मोंगरा मुस्कुरा देती ,अजय को अब यकीन हो गया था की मोंगरा ने उसे यंहा देख लिया और शायद पहचान भी लिया है ……..
अजय को ये दर्द क्यो हो रहा था शायद इसलिए क्योकि उसे अभी मोंगरा में चम्पा का अश्क दिख रहा था,और अपनी चम्पा को किसी दूसरे मर्द की बांहों में देखकर उसका खून जल रहा था,वो खुद को बार बार समझा रहा था की ये चम्पा नही बल्कि मोंगरा है उसकी चम्पा ऐसा नही कर सकती…
और अगर मोंगरा ने उसे देख लिया था तो वो उसपर वॉर क्यो नही कर रही बल्कि उसे जलाए जा रही है ..
क्योकि शायद वो अजय से प्यार करती है,लेकिन प्यार करने का ये कौन सा तरीका था की खुद के जिस्म को दूसरे के सामने सौपते हुए दिखाना..
अजय को याद आया जो विक्रांत ने उससे कहा था की मोंगरा उससे बेहद प्यार करती है ...लेकिन यंहा तो ये देख कर नही लग रहा था की मोंगरा उससे पैर करती होगी …
“साली रांड “
अजय ने मन में ही कहा और वँहा से निकल गया …
मन में कई टन जितना बोझ लेकर ,आज मोंगरा इतने पास होते हुये भी वो कुछ नही कर पाया लेकिन अब वो पुलिस के साथ आएगा और साथ ही मोंगरा की ईट से ईट बजा देगा ….
वो जल्दी से नीचे उतारना चाहता था ,वो भागता हुआ उतारने लगा…
तेजी ने उसकी पोल खोल दी और एक डाकू चिल्ला पड़ा
“कौन है वँहा “
अजय हड़बड़ाया और पैर के फिसल जाने से गिरता हुआ एक पेड़ से जा टकराया…..
माथे से खून बहने लगा था और उसका सर घूमने लगा,धीरे धीरे उसकी आंखे बंद हो गई …….

“अरे मेरी जान को चोट तो नही आयी “
अजय चौक गया क्योकि ये चम्पा की आवाज थी ,चम्पा या मोंगरा ??
उसने झट से अपनी आंखे खोली..
वो किसी की गोद में पड़ा हुआ था ,दीये की रोशनी में वो उसे पहचान सकता था ,जिस्म नंगा ही था और होठो में वही मुस्कान और सामने खड़ा बलवीर उसे गुस्से से घूरा जा रहा था...बलवीर भी नंगा ही था जिससे उसका वो गठीला विशालकाय बदन अब अजय के सामने था…
“बलवीर तुम जाओ ..”
मोंगरा ने हुक्म दिया ..
“तुम्हे अकेले इसके साथ छोड़कर ???? “
बलवीर ने खा जाने वाली निगाह से अजय को देखा ,लेकिन अजय के चहरे में एक शिकन तक नही आयी ..
“तुम फिक्र मत करो मैं सम्हाल लुंगी …”
बलवीर अजय को घूरता हुआ वँहा से निकल गया ..
“ऐसी क्या जल्दी थी की रात में ही आ गए मुझसे मिलने “
मोंगरा की हँसी से अजय का खून जल गया वो झटके से उठा ,उसका चहरा गुस्से से तमतमा रहा था …
“ओह मेरी जान गुस्सा है “
मोंगरा की बात अजय को ऐसी लगी जैसे वो उसे चिढ़ा रही हो ..
“चुप कर साली रंडी ..तेरे ठिकाने का मुझे पता चल चुका है अब देखना मैं तेरे गिरोह की ईट से ईट बजा दूंगा ..”
अजय का चहरा गुस्से से तमतमा गया था लेकिन मोंगरा जोरो से हँस पड़ी…
“ओह मेरा बच्चा गुस्सा है लेकिन पुलिस को तुम तब बलाओगे जब तुम यंहा से जाओगे...तुम्हे क्या लगता है की तुम खुद ही यंहा आये हो …?वो तस्वीर मैंने ही रखवाई थी मुझे पता था की तुम इस मंदिर के बारे में जानते हो और तुम जरूर अपना दिमाग लगाओगे और मुझे ढूंढते हुए यंहा तक आ जाओगे लेकिन …….लेकिन सोचा नही था की इतनी जल्दी ,बहुत ही बेचैन था मेरा बाबू मुझसे मिलने के लिए ,बहुत प्यार करते हो मुझसे ..”
मोंगरा के होठो पर एक कमीनी सी मुस्कान थी …
“प्यार ??? तुझे लगता है की मैं तुझसे प्यार करता हु ?? साली रंडी …”
अजय का चहरा गुस्से से जल रहा था लेकिन मोंगरा के होठो पर अब भी वही मुस्कान थी ..
“मैं चम्पा से प्यार करता हु तुझसे नही ,और जितना मैं उससे मोहोब्बत करता हु उतना ही तुझसे नफरत ..”
अजय की दशा को देखकर मोंगरा खिलखिलाई ..
“ओह मेरी जान लेकिन तुम किस चम्पा से मोहोब्बत करते हो 7745 वाली से या 4577 वाली से ….”
मोंगरा जोरो से हँस पड़ी और अजय पिला पड़ गया …
“चम्पा नाम की कोई भी लड़की नही है जो भी है बस मैं ही हु ,तुम्हारी चम्पा भी और तुम्हारी मोंगरा भी …”
मोंगरा जोरो से हँसने वाली थी लेकिन रुक गई कारण था अजय के आंखों में आया हुआ आंसू …
अजय को लगा जैसे उसकी पूरी दुनिया ही खत्म हो गई …वो नीचे बैठ गया था और सर पकड़े हुए रो रहा था ,उसे विस्वास ही नही हो रहा था की उसके साथ ऐसा कुछ हुआ है ...वो बार बार चम्पा को याद कर रहा था उसने उसकी आंखों में देखा था ,उसके दिल की धड़कने सुनी थी वो गलत कैसे हो सकती थी ???
चम्पा का अजय के लिए प्यार गलत कैसे हो सकता था ,अजय का दिल ये मानने को तैयार हि नही था की चम्पा नाम की कोई लड़की नही है या मोंगरा ही चम्पा बनाकर उस धोखा दे रही थी …….
अजय की हालत देखकर मोंगरा की आंखों में भी आंसू आ गए …
“मुझे माफ कर देना अजय लेकिन ...मैं तुमसे इतना प्यार करती हु की तुम्हे पाने का मुझे और कोई रास्ता नही दिखा “
अजय तुरंत ही खड़ा हो गया और पास ही पड़ी हुई बंदूख उठा लिया और सीधे मोंगरा पर तान दिया …
“बोल मेरी चम्पा कहा है “वो गरजा …
उसे कमरे के बाहर बड़ी हलचल सी महसूस हुई ,लगा की बाहर फ़ौज का जमावड़ा हो चुका है …
“बोल नही तो अभी तेरे दिन में ये सारी गोलियां दाग दूंगा “
मोंगरा के चहरे में कोई भी शिकन नही थी बस आंखों में थोड़े आंसू थे..
“इतना प्यार करते हो तुम मुझसे ...मैं ही तो तुम्हारी चम्पा हूं ..”वो रोते हुई बोली
अजय को लगा की उसका वो रोना बेहद असली है ,जैसे दिल से ही निकल रहा हो ,लेकिन वो कैसे मान सकता था की ये ही उसकी मासूम सी चम्पा है ,नही ये मोंगरा थी और वो उसे फंसा रही थी ...अजय अपने दिल को बार बार समझाने लगा ..
“देखो मैं किसी को नही बुलाऊंगा ,और चम्पा के साथ सब कुछ छोड़कर चला जाऊंगा ,लेकिन कह दो की मेरी चम्पा का भी अस्तित्व है ,वो है...मैं जानता हु की तुम दोनो अलग अलग हो “
अजय सुबकने लगा ..
“तुम चम्पा से प्यार नही करते अगर करते तो ठाकुर को मारने में मेरी मदद करते “
“चम्पा किसी को मरना नही चाहती ..”
“लेकिन तुम तो चाहते हो ...मुझे मारना चाहते हो ,इसीलिए तुमने ठाकुर से हाथ मिलाया ..”
“मैं ठाकुर के करीब जाकर उसे फसाना चाहता था जिससे उसे उसके कर्मो की सजा कानून दे सके …”
मोंगरा हँस पड़ी …
“कानून क्या सजा देगा ,सजा तो मैं उसे दूंगी …लेकिन याद रखो अजय तुम चाहे जिससे प्यार करते हो मैं तुमसे ही प्यार करती हुई और मैं तुम्हे पा के रहूंगी …चाहे इसके लिए मुझे चम्पा को मरना क्यो ना पड़े ”
मॉंगर शेरनी जैसे गरजी …
अजय के होठो में मुस्कान आ गई …
“मतलब की मेरी चम्पा है ,और मेरे रहते तुम उसे छू भी नही सकती ,”
अजय ने वो दरवाजा खोल दिया ,बाहर सभी की बंदूक की नली अजय के ऊपर ही थी ,सूर्य की धुंधली सी किरण फिजाओं में फैल चुकी थी ,और मोंगरा के सभी सिपाही तन कर खड़े थे सभी की नजर अजय के ऊपर ही थी …
बलवीर अब भी उसे गुस्से में घूर रहा था ….
“खबरदार जो किसी ने कोई भी जुर्रत की तुम्हारी सरदार को यही उड़ा दूंगा “अजय गरजा ..
वो कमरे से बाहर आ चुका था साथ ही मोंगरा भी कमरे से बाहर आ गई ,अभी भी अजय के बंदूक की नली मोंगरा के ऊपर ही थी .मोंगरा अब भी नंगी थी और सुबह की किरणों में उसका जिस्म चमक रहा था ,लेकिन गिरोह के सभी सदस्यों के सामने नंगी खड़ी होने पर भी उसके चहरे में कोई भी शर्म नही था,बल्कि बस एक मुस्कान के साथ वो अजय को देख रही थी ,अजय को मन हुआ की अभी उसके सीने में सारी गोलियां डाल दे लेकिन वो ये नही कर सकता था …
वो धीरे धीरे पीछे हट रहा था और बंदूख की नोक पर मोंगरा को लेकर वँहा से निकल जाना चाहता था ..
अचानक ही बलवीर ने पास पड़ा हुआ डंडा उठा लिया ,अजय ने तुरंत उसकी ओर बंदूक घुमा कर फायर कर दिया और …………………….
और सभी जोरो से हँस पड़े क्योकि बंदूक में गोली ही नही थी ,अजय बंदूक का टिगर दबाता रहा और सभी उसकी मूर्खता पर जोरो से हँस रहे थे यंहा तक की मोंगरा भी उसे देखकर हँसने लगी थी ,लेकिन बलवीर अब भी गुस्से से उसे घूरे जा रहा था ,उसने आपके हाथो में पकड़ा हुआ डंडा उठाया और सीधे अजय के उनपर घुमा दिया,जो की सीधे ही उसके सर में आकर लगा…
अजय का सर फिर से चकरा गया था और वो फिर से धड़ाम से नीचे गिर गया…..
Reply
02-04-2020, 12:25 PM,
#36
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
एक छोटा कमरा और एक छोटी सी खिड़की ,जिसमे से आती हुई छनी हुई धूप ने अजय को होशं में लाया ,हाथ पाव बंधे हुए थे और कुछ आवाजे सुनाई दे रही थी ,वो सरकता हुआ खिड़की के पास आ गया ……
“तुम्हे उसे छोड़ देना चाहिए मोंगरा तुम समझने की कोशिस तो करो “
“नही समझना है मुझे कुछ वो मेरा है और मैं उसे किसी के साथ भी नही बाट सकती चाहे वो मेरी बहन ही क्यो ना हो “
“मेरी बात मानो क्या तुम मुझे इतना भी नही मानती “
“मानती हुई डॉ लेकिन इस बात के लिए नही …”
मोंगरा की बात सुनकर डॉ चुतिया और तिवारी दोनो ही मायूस से दिख रहे थे,अजय उन्हें देख सकता था,सामने मोंगरा थी जो अपने तेवर में थी और डॉ और तिवारी जो की मोंगरा को बचपन से जानते थे उनकी भी कोई कदर नही कर रही थी ..
“क्या मैं उनसे मिल सकता हु “
तिवारी ने कहा और मोंगरा उसे देखने लगी
“देखो मोंगरा हो सकता है की हम उसे समझा ले ...और तुम्हारी कुछ मदद हो जाए ठाकुर को मारने में “
डॉ चुतिया ने अपना दावा फेका ..
“ठिक है मैं बचपन से आप दोनो की कद्र करती हुई बस इसलिए …”
उसने एक आदमी की ओर इशारा किया और वो दोनो को उस कमरे के पास ले आये और थोड़ी ही देर में दरवाजा खुला ,अजय असहाय सा दोनो को देख रहा था …
तिवारी ने दरवाजा बंद कर दिया ..
“चम्पा ठीक तो है ना उसे कुछ किया तो नही मोंगरा ने “
अजय का पहला सवाल था जिसे सुनकर तिवारी और डॉ दोनो के होठो में मुस्कान आ गई ..
“वो ठीक है तुम्हे उसकी फिक्र करने की जरूरत नही है,वो मेरे साथ है शहर में ...और तुम फिक्र मत करो हम तुम्हे छुड़ा लेंगे “
डॉ की बात से अजय को थोड़ी राहत तो मिली लेकिन फिर भी वो बेचैन था ..
“तिवारी पुलिस को बुला ले और यंहा पर अटैक करवा …”
अजय की बात से तिवारी और डॉ दोनो ही चुप हो गए
“नही सर हमे पता है की ठाकुर ही गलत है और मोंगरा को मारने का मतलब है की ठाकुर को फिर से पूरी ताकत मिल जाना हम ये नही कर सकते ..अगर करना होता तो कब का कर चुके होते …”
अजय को समझ आ चुका था की ठाकुर और डॉ दोनो ही मोंगरा से मिले हुए है ..
“लेकिन तुम देख रहे हो ना की वो अपने ही धुन में है और अब तो आप लोगो की बात भी नही मान रही है “
अजय बौखला गया था ..
“तुम फिक्र मत करो अजय हमारे पास एक दूसरा प्लान है तुम्हे छुड़ाने का .तुम यंहा से बाहर निकल जाओ और चम्पा के साथ नई जिंदगी बिताओ बस ...ठाकुर और मोंगरा को अपनी जंग खुद ही लड़ने दो …”
अजय बिल्कुल ही स्तब्ध सा दोनो को देखने लगा लेकिन कुछ भी नही कह पाया ……
************
Reply
02-04-2020, 12:25 PM,
#37
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
वो दिन का ही समय था अजय को यंहा कैद हुए 3 दिन हो चुके थे ,अभी अभी मोंगरा और बलवीर कही गए थे ,वो खिड़की के पास बैठा हुआ सब कुछ देख रहा था और बस किसी मदद की तलाश में था …….
वो बैठा बैठा सो गया था की उसे फिर से घोड़ो की आवाज सुनाई दी ..उसने देखा की मोंगरा वापस आ चुकी है लेकिन इस बार उसके साथ बलवीर नही था ,घोड़े से उतर कर वो सीधे अजय के कमरे में आयी ..
“क्यो मेरी जान कैसे हो “
अजय गुस्से से उसे देख रहा था
“अरे मेरी जान को बहुत ही गुस्सा आया ..”
मोंगरा के खिलखलाने की आवाज से पूरा कमरा गूंज गया,उसकी बात सुनकर बाहर खड़े हु उसके आदमी भी हँस रहे थे ,ये अजय के लिए रोज का काम हो गया था,कभी कभी मोंगरा उसके कमरे में आया करती थी और उसे यू ही सताया करती थी ..
“सुनो इसके हाथ पैर अच्छे से बांध कर इसे घोड़े पर बिठा दे ..”
मोंगरा ने कमरे के बाहर खड़े हुए आदमी से कहा
“लेकिन सरदार इसे आप कहा ..”
“मादरचोद जो बोला है वो कर …”
मोंगरा ने सीधे ही पिस्तौल उसके सामने ठिका दिया वो घबरा कर अजय के बंधनो को और कसने लगा,और कुछ लोग उसे उठा कर मोंगरा के घोड़े में बिठा दिया ,मोंगरा उसके पीछे जा बैठी और घोड़ा फिर से चल पड़ा ,वो पहाड़ी से नीचे आ चुके थे अभी तक मोंगरा ने एक शब्द भी नही कहा था …
नीच उतर कर वो जंगल की तरफ जाने लगे ….
थोड़ी दूर ही गए होंगे की अजय की नजर उस वेन पर पड़ी जो की वँहा खड़ी हुई थी ...तिवारी और डॉ को देखकर अजय आश्चर्य में पड़ गया था ……
उसके सारे बंधन खोल दिए गए ,वो उस लड़की की तरफ देखने लगा जो उसे छुड़ा कर लाई थी …
उसकी आंखों का आंसू ही उसकी सच्चाई बता रहा था ..
“चम्पा “अजय ने अपनी कांपती हुई आवाज में कहा
वो रोते हुए उसके गले से लग गई ….
वो ऐसे गले मील जैसे उनके लिए समय थम ही गया था और जंहा में और कुछ भी नही बचा था ..
…………
“अब आप लोगो का हो गया हो तो चले “तिवारी ने हल्की आवाज में कहा
“जब मोंगरा को ये पता चलेगा तो वो बौखला जायेगी और अब हमारा भी इस जगह रहना ठीक नही …”तिवारी की आवाज से ख़ौफ़ साफ समझ आ रहा था
“उसे पता चल जाएगा की तुम्हे किसने छुड़ाया है ..खैर छोड़ो चलो जितनी जल्दी हो सके हमे यंहा से निकलना होगा ..”
डॉ फिर से गाड़ी में बैठ गया लेकिन पता नही अजय को क्या हो गया था वो कभी डॉ को देखता तो कभी चम्पा को और कभी तिवारी लेकिन वो एक कदम भी हट नही रहा था …
सभी के चहरे पर अजय के इस व्यव्हार दो देखकर चिंता की लकीर छा गई थी …..
“अजय चलो “चम्पा ने उसके हाथो पर जोर डाला
“नही ...ऐसे नही अगर ऐसे गया तो मोंगरा हमे फिर से ढूंढ लेगी और फिर शायद वो हो जाए जो नही होना चाहिए,वो ठाकुर से बदला लेने की बजाय हम सब से बदला लेगी ...मैंने उसकी वो दीवानगी देखी है ,मैं उसका पागलपन जानता हु …”
“लेकिन अजय हम कर भी क्या सकते है ...क्या तुम मेरा वो सपना पूरा नही करोगे जो हमने साथ में देखा था,मैं एक घर चाहती हु अजय ,तुम्हारा साथ चाहती हु ,हम दोनो इन सबसे कही दूर चले जायेंगे ….”********
“नही चम्पा ऐसे नही मैं तुम लोगो की जिंदगी को दाव पर नही लगा सकता ……..मुझे मुकाबला करना होगा …”
“किसका “
डॉ ने चौक कर कहा
“मोंगरा और उसके गिरोह का “
“तुम पागल हो गए हो ..?”
लगभग तीनो ने एक साथ ही कहा
“हा थोड़ा सा “अजय के चहरे में मुस्कुराहट फैल गई और उसने तिवारी के कमर में लगा हुआ वैयरलेश निकाल लिया ……
कुछ ही देर में वँहा पुलिस और ठाकुर के आदमियों की कई गाड़िया लग चुकी थी ,सभी इतने खामोशी में हो रहा था की ऊपर पहाड़ में बैठे किसी भी शख्स को इसकी भनक ना हो,चम्पा तिवारी और डॉ की अजय ने एक नही सुनी उसे कोई धुन चढ़ गई थी ,अजय ने ही पूरा प्लान बनाया था और पहाड़ी को पूरी तरह से घेर लिया गया था …
“तुम में से कोई भी वँहा नही जाएगा “
अजय ने ठाकुर के बेटे रणधीर से कहा…
और इससे पहले वो कुछ भी बोले सीधे उसके माथे पर पिस्तौल ठिका दिया …
“अपनी ठाकुरगिरी अपने पास रख यंहा मत दिखा ..चुपचाप यंहा बैठा रह …”
रणधीर जैसे मचल कर रह गया और अपने साथियों के साथ थोड़ी दूर जाकर बैठ गया ,वही अजय सभी पुलिस वालो को समझने लगा की कैसे पहाड़ी को घेरना है और बिना किसी को शक हुई अपनी पोजिशन लेनी है …

***********
Reply
02-04-2020, 12:25 PM,
#38
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
“सरदार आपने ही तो कहा था की उसे मेरे साथ भेजो “
“मादरचोद “
एक करारा झापड़ उस आदमी के गालो में पड़ा जिसने अजय को आजाद किया था ….मोंगरा की बेचैनी अजय साफ साफ देख रहा था वो आधे घंटे से उसकी प्रतीक्षा कर रहा था , अभी वो पूरी तरह के तैयार था और उसके सामने जाने को और वो उसके सामने प्रगट हो गया,लेकिन अब वो अकेला नही था उसके साथ पूरी फ़ौज थी …….
“तो वो रांड तुम्हे छुड़ा के ले गई “मोंगरा का चहरा गुस्से से जल रहा था ..
“उसे और जिसने भी उसका साथ दिया है मैं उसे नही छोडूंगी “
अजय ने अपनी पिस्तौल उसके सामने कर दी ..
“अब और नही मोंगरा तुम्हारा खेल अब खत्म हुआ ,गिरफ्तार कर लो इसे और इसके बाकी साथियों को “
अजय के एक आदेश पर सभी सिपाही भागे देखते ही देखते सभी के हाथों में हथकड़ी पड़ते गई बलवीर भी मजबूरी में हथकड़ी पहन चुका था ,सभी के हथियार भी जब्त कर लिए गए थे,लेकिन अभी तक किसी ने मोंगरा को नही छुवा था या ये कहे की किसी सिपाही की उसे छूने की हिम्मत नही हो रही थी..अजय सभी की इस हरकत को देखता हुआ हंसता हुआ एक हथकड़ी अपने हाथो में लेकर मोंगरा को देखने लगा जो अपने इतनी मेहनत से बनाये हुए साम्राज्य को बिखरता हुआ देखकर आंखों में आंसू लाकर बस हल्की हल्की सी सिसक रही थी उसकी आंखे गुस्से से जल रही थी और हाथो में पिस्तौल लहरा रहा था लेकिन उसे चेतावनी दी गई थी की अगर उसने को भी हरकत की तो उसे और उसके साथियों को भुजंकर रख दिया जाएगा …
अजय बस उसे देखकर मुस्कुरा रहा था और बेफिक्र ही हाथो में हथकड़ी लिए उसकी ओर बढ़ रहा था,मोगरा की आंखों में पानी था और उसके हाथ पिस्तौल में कस रहे थे,वो पहाड़ी के एक किनारे जा पहुची थी जंहा से नीचे बस खाई थी ,अजय को होने वाले हादसे की समझ आ चुकी थी ,वो इसी डर में था की कही मोंगरा खाई में ना खुद जाए ...
“मोंगरा ठाकुर के किये की सजा मैं उसे दूंगा तुम अब अपने को सिलेंडर कर दो ..”
मोंगरा ने ना में सर हिलाया वो खाई के और भी करीब पहुच चुकी थी …
“पुलिस कभी ठाकुर को नही पकड़ सकती अजय मेरी बात समझो मुझे जाने दो ठाकुर को अगर कोई रोक सकता है तो वो हु मैं …...सिर्फ मैं……..”
“तुम्हारी गलती है मैं उसे गिरफ्तार कर सकता हु मेरे पास उसके खिलाफ सबूत है ,बचपना मत करो मोंगरा ..”
“मैं तुमसे प्यार करती हुई अजय बस यही कहना था ,सच में बहुत ज्यादा प्यार और तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकती हु लेकिन ये नही ...भगवान तुम्हे और चम्पा को सुखी रखे ,उससे कहना की उसकी बहन उससे बहुत प्यार करती थी ..शायद इसीलिए तुम दोनो को जिंदा रखा जबकि तुम दोनो ही मेरे मकसद में सबसे बड़े रोड़े थे …”
मोंगरा सिसक रही थी अजय के दिल में अजीब सी पीड़ा हुई लेकिन फिर भी उसने अपने इरादे नही बदले थे ...
वो उसकी ओर बढ़ ही रहा था की एक और आवाज आयी …
“इस रंडी को कैद करके क्या करोगे इंस्पेक्टर इसका काम यही खत्म कर देते है “
अजय पलटा रणधीर हाथ में बंदूख लिए मुस्कुरा था,
“नही “अजय बस चिल्लाया ही था की एक गोली की आवाज आयी और रणधीर के हाथो से पिस्तौल दूर जा गिरी ,बलवीर अपने हाथो में लगी हुई हथकड़ी की फिक्र किये बिना ही रणधीर पर टूट पड़ा था ,रणधीर थोड़ा सम्हला तो मोंगरा ने उसके ऊपर बंधूक तान दी ..
“नही मोंगरा नही “
अजय बस कहता ही रहा और गोलियों की आवाज से पूरा माहौल गूंज गया ,मोंगरा की पिस्तौल से निकली हुई सभी गोलियां रणधीर को छलनी कर रही थी ,अजय को इसे रोकने का कोई भी जरिया दिखाई नही दिया वो अपने हाथ में रखे हुए पिस्तौल से गोलियां चलाने लगा जो की सीधे मोंगरा को लगी और वो खाई में गिरने को हुई ..
“नही ……….”
ये एक आवाज नही थी दो थी ,एक अजय की दूसरी बलवीर की दोनो ही खाई की ओर भागे थे ...मोंगरा का जिस्म खाई में गिरता हुआ दिखाई दिया,अजय तो वही रुक गया लेकिन बलवीर नही वो खुद गया उसके हाथ बंधे हुए थे लेकिन फिर भी खुद गया ...अपनी मोंगरा को बचाने को खुद गया…..
अजय बस किनारे में खड़ा देखता ही रहा ,आंखों में आंसू और दिल में दर्द लिए बस देखता ही रहा ………….

“आखिर हुआ क्या था जो मोंगरा ठाकुर से इतनी नफरत करती थी ,आपकी कहानी तो अधूरी रह गई थी “
अजय ने तिवारी को कहा ,दोनो अजय के घर पर दारू पी रहे थे ,तभी चम्पा वँहा आयी और कुछ भुने हुए काजू उनके सामने रख दिया ..
“भाभी जी अगर आपकी इजाजत हो तो आपके पति को थोड़ी देर के लिए ले जाऊ”तिवारी ने शरारत से कहा
चम्पा शर्मा गई ..
“क्या तिवारी चाचा आप भी ,मैं आपकी बेटी हु ना की भाभी और अभी हमारी शादी कहा हुई है,इन्हें तो काम से फुरसत ही नही है जो मुझे शादी कर ले “
चम्पा की बात से अजय का चहरा गंभीर हो गया था ..
“चम्पा मैंने मोंगरा से वादा किया था की ठाकुर को उसके किये की सजा दिलवाऊंगा ...मुझे उसके खिलाफ ज्यादा से ज्यादा सबूत इकठ्ठे करने है ..जिस दिन ठाकुर सलाखों के पीछे जाएगा उस दिन मैं तुमसे शादी करूंगा ….”
सभी चुप हो चुके थे ,अभी मोंगरा को गए हुए 15 दिन हो गए थे ,ना उसकी लाश मिली ना बलवीर की शायद पहाड़ी के नीचे बहने वाली नदी में दोनो बह गए थे ..
अजय दिन रात बस ठाकुर के पीछे लगा था,ठाकुर को अपने बेटे के मरने का गम तो था लेकिन साथ ही मोंगरा और उसके गैंग के जाने की खुसी भी थी ..
चम्पा अब अजय के साथ ही रहती थी..कभी कभी भावना और विक्रांत उससे मिलने आते थे ,अजय काम में बहुत ही ज्यादा बिजी था और उसे मामले को फिर से पूरा समझने की इक्छा पैदा हुई ……
तिवारी और अजय अब कमरे से बाहर चले गए थे,तिवारी ने एक सिगरेट सुलगाई ..
“चम्पा के सामने ये सब बात मत किया करो ,वो हमेशा से इन सबसे अलग थी ….”
“तो अपनी अधूरी कहानी पूरी करो ..”
अजय ने उसके हाथो से सिगरेट ले ली …
तिवारी गहरी सास लेकर कहता गया…….
कहानी वँहा से स्टार्ट करते है जंहा से छोड़ा था ..
Reply
02-04-2020, 12:25 PM,
#39
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
फ्लेशबैक स्टार्ट…
कालिया फिर से हवेली में था लेकिन इस बार वो किन्ही और चीजों के प्रति सजग था,उसके साथी अलग अलग जगहों में छिपकर हवेली में होने वाली गतिविधियों का नुमायना कर रहे थे,
कालिया अंदर जाते हुए डरने की एक्टिंग कर रहा था वो जानता था की ठाकुर के लोग उसे देख भी रहे है और रोकने वाले भी नही है ...उसे खुद पर भी हँसी आ रही थी क्योकि अंदर जाते हुए उसे डर तो लग ही नही रहा था ,लेकिन एक्टिंग जरूर कर रहा था…
वो सीधे उसी कमरे में पहुच गया जो उसके लिए पूनम ने मुक़म्मल कर रखा था,
जब आपको पता हो की कोई आपको देख रहा है तब ऐसी एक्टिंग करना बड़ा ही मजेदार अनुभव होता है,कालिया को बस थोड़ी ही देर इंतजार करना पड़ा …
“ओह तो तुम आ गए “पुमन आते ही दौड़कर उसके गले से लग गई ..
“ये क्या कर रही हो कोई देख लेगा …”
“यंहा हमे कोई भी नही देख सकता ..”
“फिर भी मैं किसी और से प्यार करता हु”
कालिया ने पूनम को खुद से दूर करने की कोशिस की लेकिन पूनम किसी जोक की तरह कालिया के शरीर से चीपक गई थी ….
उसने अब अपना सर उठाया..
“तो उस दिन जो हमारे बीच हुआ था”
“वो महज एक इत्तफाक था ,उस समय मैं गुस्से में था ..”
पूनम के चहरे की मुसकान और भी चौड़ी हो गई..
“तो ये इत्तफाक फिर से हो जाए “
पूनम ने कालिया के धोती के ऊपर से ही उसके लिंग को सहला दिया,ना चाहते हुए कालिया के लिंग ने एक फुंकार मार दी और मुह से एक आह सी निकल गई …
“छोड़ो मुझे “
कालिया ने जोर का झटका दिया और पूनम उससे अलग हो गई …
“देखो पूनम मैं तुम्हारी बहुत इज्जत करता हु,जिस तरह से तुमने अपनी जान पर खेलकर हमारी मदद की है मैं उसके लिए तुम्हारा अहसान मंद भी हु लेकिन ...मेरी एक बीवी है जिससे मैं बहुत ही महोब्बत करता हु …”
पूनम के आंखों में थोड़ा पानी आया..
“इतनी खुसनशिब है रोशनी जो उसे तुम्हारे जैसा पति मिला है ….लेकिन हमारे परिवार में मर्द दो-तीन शादी करते है फिक्र मत करो मैं भी तुम्हारी पत्नी बन जाऊंगी .”पूनम ने चहकते हुए कहा ,
फिर थोड़े धीरे स्वर में बोली
“या फिर रखैल ..जो बनाना चाहो “
कालिया उसकी बात सुनकर ही कांप गया था ,पुनम के आंखों का आंसू बता रहा था की उसके दिल में कालिया के लिए क्या है,क्या ये महज शाररिक सुख की कामना थी या कुछ और ???
कालिया ना तो समझ पाया ना ही उसे समझना था…
“मुझे रोशनी और कनक से मिलना है …”
पूनम के चहरे में दर्द भरी मुस्कान खिल गई..
“जरूर हजूर …”
वो धीरे धीरे चलते हुए उसके पास आयी और गालों में एक प्यार भरा किस कर दिया
“मैं समझ चुकी हु की तुम मुझे अपनी पत्नी तो नही बनाओगे ,,लेकिन कम से कम रखैल तो बना ही सकते हो ..”
हँसते हुए उसने कालिया के लिंग को मसल दिया और शरारत भरी हँसी हँसते हुए वो वँहा से निकल गई …
पूनम की इस शरारत से कालिया के चहरे पर भी ना चाहते हुए एक मुस्कान आ गई,

****************
कालिया रोशनी के साथ उसी बाथटब में लेटा हुआ था जिसमे वो उस दिन लेटा था ..दोनो एक दूसरे में खो गए थे ,
इधर हवेली के एक कमरे में ..
“वो साला मेरे ही घर में है और मेरी बीवी उसे सपोर्ट कर रही है ,मादरचोद को यंही मार डालने का मन करता है ,या उसके सामने ही उन तीनो लड़कियों को काट डालूंगा …”
प्राण ने शराब को एक सांस में अपने अंदर पहुचा दिया …
परमिंदर उसे सांत्वना देता है ,
“अभी ना जाने कितने हितैषी होंगे उसके इस हवेली में ,सभी को धीरे धीरे ढूंढना बहुत ही जरूरी है वरना क्या पता की हम उसे मारने की सोच रहे है और वो हमारे ही घर में हम पर ही भारी पड़ जाए “
परमिंदर की बात से प्राण शांत तो हो गया लेकिन उसके कानो में पूनम की वो आवाज अब भी साफ साफ गूंज रही थी जिसे उसने आज सुना था,उसकी बीवी उसके दुश्मन की रखैल बनना चाहती है …….
प्राण गुस्से को पीने के कारण कांप रहा था लेकिन फिर भी मन के किसी कोने में उसके अंदर स आवाज आ रही थी की दिमाग से काम ले ,जल्दबाजी में सब कुछ गड़बड़ हो जाएगा …..
“साला इतना महंगा बाथरूम बनवाया था ,3 लाख का झूमर लगवाया था ,1 लाख का तो वो टब ही है और साले उनमे वो कालिय अपनी बीवी के साथ मौज कर रहा होगा ,.ना जाने कल मेरी बीवी भी ....इसकी मा की चुद …”
प्राण ने अपने हाथ में पकड़े हुए कांच के गिलास को जोरो से फेका जो दीवाल से टकरा कर चकनाचूर हो गया ..”
परमिंदर को उसकी बात पर थोड़ी हँसी भी आयी लेकिन वो इसे अपने तक ही दबा कर रह गया..
“कुछ तो करना होगा परमिंदर हम ऐसे हाथ पर हाथ धरे तो नही बैठ सकते ना “
“बेशक हमे बस कुछ करना तो होगा ठाकुर साहब लेकिन अभी नही ...बेफिक्र रहिए और किसके लिए रो रहे हो वो लड़की जो कभी मन से आपको अपना पति स्वीकार ही नही कर पाई,क्या आश्चर्य है की वो आपसे धोखा कर रही है ,अपने भी तो उसके बाप के गले में तलवार रखकर उसे उठाया था,वो कैसे आपको प्यार कर सकती है ,जिस प्यार और वफ़ा की आप उससे कल्पना कर रहे हो क्या अपने कभी उसे दिया है ..”
प्राण को लगा जैसे किसी ने उसे आईना दिखा दिया था,वो बौखला गया था लेकिन वो परमिंदर था कोई और होता तो शायद प्राण उसे गोलियों से भूंज देता...परमिंदर के साथ यही दिक्कत थी वो बेबाक था चाहे ठाकुर ही क्यो ना हो वो उसकी गलतियों को गिना देता,लेकिन ठाकुर उसे बर्दास्त करता था क्योकि उसे भी पता था की ऐसा वफादार और सच्चा आदमी उसे नही मिल सकता………
**********
Reply
02-04-2020, 12:25 PM,
#40
RE: kamukta जंगल की देवी या खूबसूरत डकैत
रात के 2 बजे होंगे,परमिंदर अपनी बीवी के बांहो में था ,वो अभी अभी पति पत्नी वाले काम से निपटे थे ,थके होने के बावजूद परमिंदर कभी अपनी पत्नी को निराश नही करता था,वो 1 बजे था ठाकुर के पास ही था,काम से थका हुआ आया और बीवी को देखकर उससे प्यार करने लगा….
परमिंदर छत को ताक रहा था,उसकी बीवी उसके नंगे छाती में उगे हुए काले बालो को सहला रही थी ..जिस्म की कोमलता परमिंदर के मर्दाना जिस्म से सटी हुई थी और दोनो के प्यार के परिणाम स्वरूप उत्पन्न पसीने की महक दोनो को एक दूजे के प्रति और भी लुभावना बना रही थी …
“क्या हुआ कुछ सोच रहे हो ,सब ठीक तो है ना “
“हम्म सब ठीक है ,लेकिन कभी कभी लगता है की ठाकुर की वफादारी करने से अच्छा कोई दूसरा काम देख लू …”
“क्या हुआ “
“कितने घिनोने काम करना पड़ता है मुझे यंहा ,सच कहु तो दिल गवाही नही देता लेकिन फिर सोचता हु की ये ही मेरा काम है जो हम पुरखो से करते आ रहे है...लड़ाई,इसके अलावा हमे आता ही क्या है,कभी राजाओं के सेवक थे तो अब ठाकुर के है ,मेरा बेटा भी यही करेगा,हमारे खून में वफादारी है ,जिसके साथ रहे वो गलत हो या सही साथ नही छोड़ते,...”
परमिंदर की बीवी उसके सीने को प्यार से चूमती है ..
“मैं अपने बेटे को ठाकुर का वफादार नही बनाऊँगी वो तो उसका वफादार होगा जो नेक हो और जो ठाकुर जैसे लोगो को ही खत्म कर दे “
परमिंदर आश्चर्य से अपनी बीवी को देखता है ,जो उसे देख कर बस मुस्कुरा रही थी ………..

कालिया जंगल में बैठा हुआ इस बात पर विचार कर रहा था की क्या रोशनी ,कनक और पूनम को इस बात के लिए आगाह कर दिया जाय की प्राण उनकी हर हरकत पर नजर रखे है …
उसे सभी का समलित जवाब हा में मिला लेकिन समस्या था की कैसे क्योकि अगर प्राण किसी तरह से उनकी बात सुन रहा होगा तो फिर क्या होगा,जवाब आया की क्यो ना पूरी बात लिख कर पढ़ाई जाय…
कालिया ने यही किया,रोशनी और कनक ने तो इसे आराम से स्वीकार कर लिया लेकिन पूनम ने जब ये सब पढ़ा तो माहौल कुछ अलग था……
वो उसी कमरे में थे…
“ह्म्म्म तो फिर ये बात है”
कालिया ने उसे चुप रहने का इशारा किया
“क्या इशारा कर रहे हो मेरे राजा ...लगता है की तुम मुझे अपनी रखैल बनाने को राजी हो ही गए जो ऐसे इशारे कर रहे हो “
कालिया पूनम की बात सुनकर दंग रह गया,पूनम इठलाकर उससे लिपट गयी और उसके कान में फुसफुसाई ..
“अगर ऐसा है तो मैं उस साले प्राण को तड़फा कर मार डालूंगी ,साले ने मुझे मेरे घर से उठाया था,मेरे पिता को जलील किया था अब तो उसे इसकी सजा मिलनी ही है ,जिसके मोह में आकर उसने मुझे उठाया था उसकी शरीर को मैं उसकी ही नजरो के सामने दूसरे को सौप दूंगी और तुम्हे मेरा साथ देना होगा “
उसके आवाज में संकल्प ,दर्द और बदले की चाह साफ थी साथ ही कालिया के लिए एक धमकी भी थी ,क्योकि उसने साथ देना होगा नही कहा था ,उसने कहा था साथ देना ही होगा …
कालिया को समझ आ चुका था की पूनम ऐसा क्यो कर रही है लेकिन आगे वो क्या करे इस बारे में वो समझने की कोशिस कर रहा था,
“तुम मुझसे सच में प्यार करती हो या बस अपनी जिस्म की भूख मिटाना चाहती हो ..”
कालिया ने थोड़ा जोर से कहा ताकि अगर प्राण सुन रहा हो तो उसे भी ये सुनाई दे जाए …
वो खिलखिलाई ..
“तुम मुझे अच्छे लगते हो ,अब इतने कम दिनों में प्यार तो हो नही सकता ना,लेकिन हा अगर तुम उस दिन जैसे मेरा साथ दो तो तुम्हारे मजबूत इरादों और मजबूत लिंग से मुझे संचमे प्यार हो जाएगा “
वो मुस्कुराई,उसकी मुस्कुराहट बिल्कुल सच्ची थी जैसे उसकी ये बात सच्ची थी ,सच्चाई ढूंढने के लिए कुछ खोजना नही पड़ता बस आंखों में उभरे भाव ही काफी होते है…
वो मचलते हुए कालिया से लिपट गई और साथ ही कालिया भी जोरो से हँस पड़ा और उसे मजबूती से अपनी बांहो में भर लिया,वो ध्यान से पूनम को देखने लगा,वो परी थी जिसकी कल्पना भी शायद कालिया अपनी दूसरी जिंदगी में नही कर सकता था ,
वो खूबसूरती में कनक और रोशनी से कही आगे थी ,लेकिन उसकी खुसबसूरती को नापने वाली आंखे होनी चाहिए,
नीली आंखे ,बिल्ली सी आवाज ,भूरी प्यारी सी लड़की ,बाल पूरे तरह से काले नही थे,चहरे के रंग के कारण वो भी थोड़े भूरे थे लेकिन लंबे और मजबूत ,होठो की लालिमा किसी गुलाब सी थी किसी भरे हुए मय के प्याले ही लगते थे ,
कालिया आगे बढ़कर उसके होठो को हल्के से चूमा ,वो आंखे उठाई उसकी आंखों में देखने लगी ,ये क्या हो रहा था उनके बीच …
पता नही क्या था लेकिन जैसे कोई करेंट सी दोनो के जिस्म में दौड़ गई थी ,पूनम के बदले की आग और कालिया का पत्नीव्रता होना सब जैसे कही पीछे छूट गया,ये अजीब था वो ये सब इसलिए तो नही कर रहे थे की उनके मन में एक दूसरे के लिए प्यार था या जिस्म की हवस ही थी ,नही ऐसा कुछ तो नही था लेकिन अभी अभी जो हुआ था वो क्या था…
दोनो के आंखों में आया हुआ वो भाव क्या था जिसे दोनो ही अपने दिलो में महसूस कर रहे थे,वो दोनो ही झटके से अलग हो गए और अपने आप से यही सवाल पूछने लगे…
कालिया ने सिर्फ एक ही औरत से प्यार किया था और वो थी उसकी बीवी ,वही पूनम कालिया के करीब इसलिए जाना चाहती थी क्योकि उसे वो मर्द लगा जो उसका बदला ले सके …
लेकिन वो होठो का एक मिलन सभी गणित को बिगड़ कर रख दे रहा था,
“मुझे माफ करो की मैं “कालिया कुछ बोलता इससे पहले ही पूनम ने उसके होठो पर अपने हाथ रख दिए ...और सर ना में हिलाया ,वो कालिया के करीब आई और उसके कानो में कहा ,
“पता नही ये क्या था लेकिन ये नही होना चाहिए,जिस्म मिल जाय लेकिन जस्बात नही वरना हम दोनो हो मुसीबत में फंस जाएंगे…..”
कालिया ने सर हा में हिलाया …
“चलो तुम्हे तुम्हारी प्यारी पत्नी से मिलवा देती हु …”पुनम मुश्किल से सामान्य हो पाई क्योकि उसके जीवन में ये पहला मर्द था जिसके लिए उसे ऐसा अहसास हुआ था,ये एक दिन के मिलन का नतीजा नही था शायद कुछ उसने मन में पहले ही रहा हो जो आज अचानक से बाहर आ गया ...सम्मान कब और कैसे प्यार में बदल जाए कहा नही जा सकता……
********
विक्रांत उसी कमरे था जंहा उसने वो खेल खेला था ,और अब भी रोशनी और कनक उसके साथ बैठे थे लेकिन कनक आज उस दिन की अपेक्षा बहुत ही शांत थी ,क्योकि उसे भी पता था की जिस प्लान को वो पूरा करना चाहती थी वो अब नही हो सकता लेकिन इसके एवज में उन्होंने एक गलती कर दी थी वो था की विक्रांत के मन में रोशनी को पाने की चाह पैदा करना ,विक्रांत जुनूनी और हवसी दोनो ही था ,अब वो रोशनी को हवस नही बल्कि जुनूनी नजरिये से देख रहा था ,उसके मन में उसे पाने के अगल अगल ख्यालात पैदा हो रहे थे...वही कनक और रोशनी इसी सोच में थे की आखिर विक्रांत को उसके शैतानी इरादों से कैसे रोका जाए……
“क्यो मेरी जान आज बड़ी चुप हो “विक्रांत के बाजू में बैठी हुई कनक के जांघो पर हाथ फेरते हुए विक्रांत ने कहा ..
कनक ने उसका हाथ हटा दिया,एक खुलासा और कालिया की मौजूदगी दोनो ने ही कनक और रोशनी के सोचने के तरीके को बदल दिया था,पहले वो अपने को मजबूर समझ रही थी कालिया के आने से वो मजबूत हो गई,लेकिन इस खुलासे से की प्राण उनपर नजर रखे है वो डर गई थी,उन्हें समझ ही नही आ रहा था की आखिर करे तो क्या करे,अगर विक्रांत का साथ दिया तो कालिया की प्रतिक्रिया क्या होगी और अगर नही दिया तो विक्रांत क्या करेगा,और फिर प्राण…
वो ना तो कालिया को गुस्सा दिलाना चाहते थे ना ही विक्रांत को क्योकि दोनो में से किसी को भी गुस्सा दिलाने का मतलब था की कालिया के ऊपर संकट आना …
रोशनी उठी और अपनी ननद को पास बुला कर उसके कानो में कहा …
“तू इसे सम्हाल मैं तेरे भइया को सम्हालती हु,अगर उन्हेंने तुझे कुछ करते देख लिया तो वो खुद को माफ नही कर पाएंगे...और अगर उन्होंने वक्त से पहले कुछ कर दिया तो समझो की आफत आ जाएगी “
कनक ने सर हिलाया,विक्रांत रोशनी को जाते हुए देखता रहा लेकिन कुछ नही कहा,कह तो उसकी आंखे रही थी जो गुस्से से लाल हो चुकी थी …
“ये साली रांड अपने को समझती क्या है ,किसी दिन इसे जबरदस्ती चोद दूंगा ,बड़ी आयी सती सावित्री बनने वाली ,इसे प्यार से पाना चाहता हु और भाई की इसपर नजर है इसलिए अभी तक बची हुई है…”
विक्रांत ने कनक को गुस्से से देखा,कनक ने अपने को तैयार कर लिया था वो मचलते हुए उसके पास आ गई और उसके गोद में बैठ गई ,वो एक कसे हुए सलवार में थी जिसका दुपट्टा उसने पहले ही फेक दिया था,...
“ठाकुर साहब हमे भी देख लिया करो ,हम कच्ची कली है हमे भी फूल बना दीजिए..”
कनक ने विक्रांत का हाथ अपने वक्षो में रख दिया ,विक्रांत कच्ची कली होने की बात सुनकर उसपर थोड़ा ध्यान दिया ..
“तुझे फूल तो बनाऊंगा मेरी जान लेकिन उसे पाने की जिद जो कर बैठा हु “
कनक का अब बस एक ही मकसद था की विक्रांत के दिमाग से रोशनी का बहुत उतारना और उसने गांव की महिलाओं से ये सिख रखा था की उसे ऐसा करने के लिए विक्रांत का पानी निकलना पड़ेगा ….
वो मुस्कुराती हुई घूम कर बैठ गई ,अब उसके दोनो पैर विक्रांत के कमर को घेरे हुए थे,और चहरा उसके चहरे के करीब दोनो की सांसे टकरा रही थी ,हवाओ में एक अजीब सी खुशबू ही और माहौल में एक अजीब सी बात,ये वही समय था जब कलिया पूनम दो देख रहा था,और यंहा विक्रांत कनक को …
दोनो ही जोड़े एक दूसरे से प्यार नही करते थे लेकिन फिर भी दोनो ही एक दूसरे के आंखों में उस खास वक्त में खो से गए थे ,कहा जाता है की एक ही तरह की एनर्जी एक दूसरे को आकर्षित करती है और बढ़ाती भी है,इसलिए प्राचीन लोग कोई भी साधना ब्रम्हमुहूर्त में करने पर जोर देते थे क्योकि आसपास के समस्त साधक उस समय साधना में होंगे और सब की एक तरह की एनर्जी मिलकर सबका संवर्धन करेगी…
शायद ऐसा ही कुछ यंहा हो रहा था ..
दोनो ही जोड़े जो एक दूसरे से प्यार नही करते थे एक दूसरे की आंखों में खिंच से गए ,दोनो के लब मिले और जैसे कामदेव ने प्रेम का बाण मार दिया हो दोनो जोड़ो को एक अजीब सी संवेदना का अहसास हुआ ,जो की हवस नही थी वो प्रेम था,खालिस प्रेम …
कनक और विक्रांत एक दूसरे को छोड़ दिया,उन्हें समझ ही नही आया की ये उनके साथ क्या हुआ ,विक्रांत बेचैन हो गया,इतने लड़कियों के साथ सो चुके विक्रांत के लिए ये पहला आभस था वो भी उसके साथ जिसे वो अपनी दासी बनाना चाहता था,वही कनक के लिए तो पहला पुरुष विक्रांत ही था लेकिन वो उससे नफरत करती थी ,हा उसकी मर्दानगी पर उसे थोड़ा मोह तो आया था,और उसने उस दिन कनक के हवस को भी जगाया था लेकिन वो प्यार तो नही था लेकिन अभी अभी जो हुआ वो क्या था….दोनो ही अजीब से कंफुसन में थे,कनक से ज्यादा बेचैन विक्रांत था क्योकि वो इस लड़की के प्यार में तो मरकर भी नही पड़ना चाहेगा…
वो जल्दी से उठा और बिना कुछ बोले या नजर मिलाए ही वँहा से निकल गया,कनक भी अपनी सोच में गुम हुए हादसे को सोचती रही …….
हा ये सच है की प्यार में पड़ जाना या उसका आभस हो जाना भी किसी हादसे से कम नही होता……….
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Incest Kahani मेरी भुलक्कड़ चाची sexstories 27 3,685 8 hours ago
Last Post: sexstories
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा sexstories 85 147,287 02-25-2020, 09:34 PM
Last Post: Lover0301
Star Adult kahani पाप पुण्य sexstories 221 954,243 02-25-2020, 03:48 PM
Last Post: Ranu
Thumbs Up Indian Sex Kahani चुदाई का ज्ञान sexstories 119 87,925 02-19-2020, 01:59 PM
Last Post: sexstories
Star Kamukta Kahani अहसान sexstories 61 227,223 02-15-2020, 07:49 PM
Last Post: lovelylover
  mastram kahani प्यार - ( गम या खुशी ) sexstories 60 149,137 02-15-2020, 12:08 PM
Last Post: lovelylover
Lightbulb Maa Sex Kahani माँ की अधूरी इच्छा sexstories 228 788,938 02-09-2020, 11:42 PM
Last Post: lovelylover
Thumbs Up Bhabhi ki Chudai लाड़ला देवर पार्ट -2 sexstories 146 94,146 02-06-2020, 12:22 PM
Last Post: sexstories
Star Antarvasna kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार sexstories 101 212,836 02-04-2020, 07:20 PM
Last Post: Kaushal9696
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर sexstories 88 108,298 02-03-2020, 12:58 AM
Last Post: Kaushal9696



Users browsing this thread: 3 Guest(s)