Kamukta kahani कीमत वसूल
01-23-2021, 12:53 PM,
#11
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
ऋतु ने कहा- हाँ मैं घर पहुँच हूँ।

मैंने कहा- तुम्हारे बिना मन नहीं लग रहा है।

ऋतु हँसकर बोली- "घर मत भेजा करा, अपने साथ ही रखा करो। अपने घर ले जाया करो.."

मैं उसकी बात सुनकर कुछ बोला नहीं। क्योंकी उसने जो बात कहीं उसका क्या मतलब था? मैं समझ सकता था। मैंने उस बात को घुमा दिया और बात करने लगा।

इतने में अंजू मरे केबिन में आई। मैंने उसको बैठने को कहा। मेरे दिमाग में ऋतु का जिपम घूम रहा था। मैंने
आज पहली बार अंजू को कामुकता भरी नजर से देखा।

मैंने कहा- क्या काम है?

अंजू बोली- "सर, आज मुझे कुछ पैसों की जरूरत है..."

मैंने कहा- "कितने लेने है?"

उसने कहा- "15000.."

मैंने उसको कहा. "तुम अपनी सेलरी ता ले चुकी हो। अब इतना अमाउंट क्यों माँग रही हो?"

उसने कहा- "मेरी माम की तबीयत ठीक नहीं है..."

मैंने कहा- "ओके ले जाओ... और मैंने उसको 1000 के 5 नोट निकालकर दिए और कहा- "कोई और जरूरत हो
तो माँग लेना...

उसने मुझे बैंक्स कहां और कहा- "सर आप कितने अच्छे हो, आपका एहसान कैसे चुकाऊँगी?"

मैंने हँसकर कहा- "टाइम आने पर बता दूँगा..."

अंज उठकर जाने लगी। उसकी चूचियां देखकर मेरा फिर से मह उत्तेजित होने लगा। पर मैंने खुद को संभाल लिया। अंजू ने स्माइल दी और चली गईं। अगले दिन में आफिस में जल्दी आ गया सब मुझे इतनी जल्दी देखकर दंग रह गये।

क्रमशः..............................
Reply

01-23-2021, 12:53 PM,
#12
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
मैंने कहा- "ओके ले जाओ... और मैंने उसको 1000 के 5 नोट निकालकर दिए और कहा- "कोई और जरूरत हो
तो माँग लेना...

उसने मुझे बैंक्स कहां और कहा- "सिर आप कितने अच्छे हो, आपका एहसान कैसे चुकाऊँगी?"

मैंने हँसकर कहा- "टाइम आने पर बता दूँगा..."

अंज उठकर जाने लगी। उसकी चूचियां देखकर मेरा फिर से मह उत्तेजित होने लगा। पर मैंने खुद को संभाल लिया। अंजू ने स्माइल दी और चली गईं। अगले दिन में आफिस में जल्दी आ गया सब मुझे इतनी जल्दी देखकर दंग रह गये।

मैने केबिन में जाकर अंज को बुलाया और उसकी मोम का हाल पूछा।

अंजू बोली- "सर मेरी मोम का इलाज किसी बड़े हास्पिटल में होगा और उसमें बहुत पैसा लगेगा। पर मेरे पास इतना इंतजाम नहीं है और ना ही कोई ऐसा जरिया है, जहां से पैसा मिल सकता हो..."

अंजू के पापा नहीं थे। उसकी मौ और उसका छोटा भाई ही थे। बो लोग किराए के मकान में रहते थे। बस अंजू की कमाई से ही उसका घर चलता था।

मैंने अंजू को कहा "कोई बात नहीं, तुम अपनी मोम को लेकर सिटी हास्पिटल में जाना। मैं वहां डाक्टर को फोन कर दूँगा। एक बार वहां मोम को दिखाकर आना और इसमें तुम्हारा कोई पैसा नहीं खर्च होगा। मैं अपने आप देख लगा..."

अंजू की आँख में आँसू आ गये। वो बोली- "सर, आप कितने अच्छे हो। मैं आपके लिए कुछ भी कर सकती हैं."

मैंने अजू के पास जाकर उसके कंधों पर प्यार से हाथ फेरा और कहा- "इसान ही इंसान के काम आता है."

अंजू मेरे गले से लगकर सिसकने लगी। मैंने उसकी कमर पर हाथ फेर कर उसको दिलासा दिया। अंजू की चूचियां मेरे सीने से टकराकर मुझे उत्तेजित कर रही थी।

मैंने अंज को कहा- "अब जाओ और शाम को जल्दी चली जाना..."

वो चली गई। अब में अंजू को भी चोदने की सोच रहा था। क्या करंग ये साली चत चीज ही ऐसी है की इसके आगे सब बैंकार लगता है। मुझे किसी काम से जाना था। मैं आफिस से जल्दी निकल गया।

जब मैं काफी देर तक नहीं आया तब ऋतु का फोन आया- "सर आप कहां हो?"

मैंने कहा- मैं एक मीटिंग में हैं।

उसने कहा- "मुझको जल्दी घर जाना है.."

मैंने कहा- "ही जा सकती हो..."

में जब आफिस गया तो काफी शाम हो चुकी थी। सब चले गये थे बस चपरासी था वहां मैंने सोचा मैं भी घर चला जाता है। तभी मेरे दिल में आया की क्यों ना अंज को फोन करके पलं की वा हास्पिटल में गई या नहीं? अंजू को फोन किया।
Reply
01-23-2021, 12:53 PM,
#13
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
अंज ने कहा "में डाक्टर को दिखाकर घर आ गई हैं, और मेरी मोम आपसे मिलने को कह रही हैं। क्या आप आ सकतं हो?"

मैंने कुछ सोचकर ही बोल दिया।

मैंने अंजू के घर की तरफ कार मोड़ दी अंजू का घर आफिस के पास ही था। वहां जाकर मैंने कार पार्क की और उसके दरवाजे को खटखटाया। अंजू ने दरवाजे खोला और मुझे बड़ी प्यारी सी स्माइल दी। फिर उसने मुझे कहा "वेलकम सर.

मैं अंदर पहुँचा तो उसकी माम ने मुझसे कहा- "सर, आप हमारे घर आए मुझे बड़ा अच्छा लग रहा है। आज आपकी वजह से हम इतने बड़े डाक्टर को दिखा पाए। मैंने तो कभी सोचा भी नहीं था की मैं इतने बड़े डाक्टर से इलाज करवा सकती हैं..."

मैंने कहा- नहीं आंटी, आप मुझे शमिंदा नहीं करें और कोई परेशानी तो नहीं हुई?

अंज इतने में पानी लेकर आ गई थी। कहने लगी- "सर, डाक्टर ने हमसे अच्छे से बात की थी। आपका नाम लेने की वजह से हमको ज्यादा इंतजार भी नहीं करना पड़ा..."

मैंने कहा- मुझे पता है मेरी डाक्टर से बात हो गई थी।

फिर अंजू की मोम ने कहा- "आप चाय पीकर जाइएगा.."

मैंने कहा- जी नहीं, मैं अब चलूँगा कुछ काम है।

अंजू ने कहा- "सर, प्लीज आप पहली बार आए हैं कुछ तो लीजिए."

मैंने कहा- "आज नहीं फिर कभी ले लेंगा.." और मैंने हाके से अंज को आँख मार दी।

अंजू शर्मा गई। मैंने अजू की माँ को नमस्ते की और खड़ा हो गया।

अंजू की मोम ने कहा- "अंज, सर को बाहर तक छोड़ आओ.."

अंजू मेरे साथ बाहर तक आई मैंने हल्के से अजू को कहा- "कल आफिस आओगी या नहीं?"

अंज बोली- "सर, मैं कल क्यों नहीं आऊँगी?"

मैंने कहा- आज का नाश्ता रह गया ना?

अंजू ने भी मुश्कुराते हुए कहा- "मंजूर है कल आपको जैसा नाश्ता करना हो कर लेना सर। आपने हमारे लिए इतना करा है हम तो आपके एहसान से दब गये हैं."

मैंने कहा- "ऐसा कोई एहसान नहीं करा मैंन। बस में तो इंसानियत है...' कहकर मैं चला आया। मेरे दिमाग में अब ऋतु के साथ अंज का भी चोदने का खयाल पनप गया था। मेरे दिमाग में अब दो-दो सीलबंद चूत घूम रही श्री अंजू और ऋतु दोनों को मैं अब अपने लण्ड के नीचे लाने की तरकीब सोचने लगा।

Reply
01-23-2021, 12:54 PM,
#14
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
मेरा घर कब आ गया पता ही नहीं चला। मैंने दिमाग को फ्रेश करने के लिए बियर पी और डिनर लगाने को कहा। डिनर के बाद मुझे नींद आने लगी। मैं जल्दी सो गया अगले दिन सुबह मैंने आफिस जाने से पहले ऋतु को फोन किया की आज मैं आफिस देर से आऊँगा। तुम मेरे केबिन में जाकर वहां कुछ चेक रखें हैं उनको बैंक में लगवा देना। में जब आफिस पहुँचा तो ऋतु मेरे केबिन में ही बैठी थी।

ऋतु ने कहा- "सर, मेरी मोम आपसे मिलना चाहती हैं। अगर आप कहो तो उनको मैं आफिस में बुला ल...

मैंने ऋतु से पूछ- "उनको क्या काम है मेरे सं?"

उसने कहा- पता नहीं क्या बात है?

मैंने कहा- "ऑक बुला लो... और में बैठा सोच रहा था की ऐसा क्या काम होगा? कहीं मेरे और ऋतु के बारे में कोई बात तो नहीं पता चली? फिर मैंने सिर झटका और कहा देखते हैं।

करीब 3:00 बजे ऋतु की मोम आ गई। ऋतु की मोम को देखकर उनकी उम का आइडिया लगा पाना मुश्किल लग रहा था। ऋतु की मोम भी ऋतु जैसे गोरी और सुंदर थी, उनका फिगर एकदम मस्त था। ऋतु जैसा ही काले लंबे बाल। बस एक खास चीज जो मैंने नोटिस की, वो थी उनकी गाण्ड जो कि बिल्कुल सेंब के आकार में थी। साड़ी में अलग ही उभर रही थी।

ऋतु की मोम मेरे सामने बैठी थी फिर वो बोली- "सर, वैसे तो आपसे कुछ कहते भी नहीं बन पड़ रहा। पा मजबूरी ऐसी है की अगर आप हेल्प कर दो तो आपका बड़ा एहसान होगा हम पर..."

मैंने कहा- "आप बताइए तो सही। अगर मैं आपकी हेल्प कर सकता हैं तो जरूर करेंगा.."

वो बोली- "ऋतु की बड़ी बहन जिसकी शादी को अभी एक साल हुए हैं उसकी शादी के टाइम हमने किसी से इंटरेस्ट पर पैसा ले लिया था। लेकिन ऋतु के पापा अभी तक पैसों का इतजाम नहीं कर पाए। अब जिसको पैसा देना है वो हमको कल धमकी देकर गया है की अगर7 दिन में उसके पैसे नहीं लोटाये तो वो हमको जेल में भिजवा देंगा, और वो बड़ा गंदा आदमी है गंदी-गंदी गालियां देकर बात करता है। हम बड़ी मुशीबत में है और कोई सहारा नहीं है। अगर उसको पैसा नहीं लौटाया तो वो हमें बर्बाद कर देगा। हम कहीं के नहीं रहेंगे..." कहते कहते ऋतु की मम्मी की आँखों में आँसू भर गये और वो सिसकियां लेकर रोने लेगी।

मैंने उनको पानी दिया और कहा- "आप रोना बंद करिए। मैं देखता हैं आप मुझे उस आदमी का नाम बताओ, जिसको पैसे देने हैं, और कितने देने हैं ये बताइए.."

ऋतु की मम्मी ने मुझे उस आदमी का नाम बताया। नाम सुनकर मैं मन ही मन मुश्कुरा उठा। वो बंदा मेरे दोस्त का भाई था, जिसकी मैंने कई बार हेल्प की है। मैंने ऋतु की मम्मी से कहा- "ये आदमी तो सच में ही बड़ा गलत हैं। आपने इससे पैसे क्यों लिए आपको पता नहीं था बया?"

इसके बारे में वो बोली- "अत की बहन की शादी के टाइम हमको अचानक रुपयों की जरूरत पड़ गई और कहीं से इंतजाम नहीं हुआ। मजबूरी में इससे लेना पड़ा। उसने हमसे ब्लैंक चेक और स्टाम्प पेपर साइन करवा के रखें मैंने एक गहरी सांस लेते हुए कहा- "पैसा कितना लिया था?"

बो बोली- "275000 जोकि अब इंटरेस्ट जोड़कर एक लाख हो गया है। अब तो आपका ही सहारा है। अगर आप मदद कर दो तो हम इस मुशीबत से बच सकते हैं.."

मैंने कहा- "आप मुझे थोड़ा सोचने का टाइम दीजिए। मैं देखता है की मैं आपकी क्या हेल्प कर सकता है?" फिर मैंने कहा- "आप ये बताइए की आपको अगर मैं कहीं से इंतजाम करवा भी दूं तो आप वो पैसा कब तक लौटा सकते हैं?"

वो बोली- "ऋतु के पापा की तो कोई ज्यादा इनकम नहीं है। अत को जो आप सेलरी देते हैं, उससे ही घर चलता है। ऋतु की एक छोटी बहन और है जोकि अभी बी.ए. में हैं...

मैंने ये सुनकर कहा- "आप खुद सोचिए की आप किस तरह से इन हालात में पैसा लौटा पाएंगी?"

Reply
01-23-2021, 12:54 PM,
#15
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
मैंने कहा- "आप मुझे थोड़ा सोचने का टाइम दीजिए। मैं देखता है की मैं आपकी क्या हेल्प कर सकता है?" फिर मैंने कहा- "आप ये बताइए की आपको अगर मैं कहीं से इंतजाम करवा भी दूं तो आप वो पैसा कब तक लौटा सकते हैं?"

वो बोली- "ऋतु के पापा की तो कोई ज्यादा इनकम नहीं है। अत को जो आप सेलरी देते हैं, उससे ही घर चलता है। ऋतु की एक छोटी बहन और है जोकि अभी बी.ए. में हैं...

मैंने ये सुनकर कहा- "आप खुद सोचिए की आप किस तरह से इन हालात में पैसा लौटा पाएंगी?"

ऋतु की मम्मी ने मेरे आगे हाथ जोड़ दिए और कहा- "अब आप ही हमारी मदद कर सकते हैं, वरना हम कहीं के नहीं रहेंगे..."

मैंने कहा- "आप मुझे शर्मिदा नहीं करिए। लेकिन मैं आपकी मदद कैसे करण? ये सोचने की बात है। आप अभी घर जाइए मैं आपको कल तक बता दूँगा.. और ये कहकर मैंने अपनी बात खतम कर दी।

ऋतु की मम्मी चली गई। मैं अपनी चेंगर पर झला झलने लगा। थोड़ी देर में ऋतु मेरे कैबिन में आई।

मैंने उसको बोला- "तुम जानती हो तुम्हारी मम्मी यहां क्यों आई थी?"

ऋतु से कोई जवाब नहीं दिया गया। वो बोली "सर, प्लीज हमारी हेल्प कर दीजिए। नहीं तो हम सबकी लाइफ बर्बाद हो जायेगी और मेरे पापा को हार्ट की प्रोबलम है। उनका कुछ हो गया तो हम सबका क्या होगा?"

मैंने ऋतु को कहा- "मुझे अभी सोचने दो की मैं क्या कर सकता हूँ? और तुम जाने से पहले मुझे मिलकर जाना..."

जानें से करीब 30 मिनट पहले ऋतु मरे केबिन में आईं।

मैंने उसको बड़े प्यार से कहा- "देखो ऋतु, मैं अभी तुमको कोई वादा नहीं कर सकता। पर तुम मुझे ये बताओ की इतना बड़ा अमाउंट वापिस कैसे करोगे तुम लोग? ऋतु मैं जानता हैं की तुम्हारी सेलरी से ही तुम्हारा घर चलता है। उससे अगर कटवावगी तो ये भी सोचकर देखो की घर का खर्चा कैसे चलेगा?"

ऋतु ये सुनकर रूबांसी सी हो गई और मेरे से चिपक कर रोने लगी। कुछ बोली नहीं।

मैंने उसको कहा- "रोना बंद करो। मैं कुछ ना कुछ करता है। पहले तुम जरा मुझं रिलॅक्स तो कर दो.."
.

ऋतु समझ गई मैं क्या चाहता है। उसने मेरी जीन्स की जिप खोली और मेरा लण्ड बाहर निकालकर चूसने लगी। मुझे आज चुप्पे में मजा नहीं आ रहा था। वो लण्ड चूस जर रही है, पर मजा नहीं आ रहा था।

मैंने उसको कहा- "तुम दिल से नहीं चूस रही हो.."

उसने कहा- "ऐसा तो नहीं है सर."

फिर मैंने उसको कहा- "मुझे मजा नहीं आया तो में फ्री दिमाग कैसे हो पाऊँगा?"

सुनकर वो एकदम से मेरे लौड़े का पूरा मुँह में लेकर जोर-जार से चूसने लगी। अब मुझे मजा आने लगा। मैं उसकी चूची पर हाथ फेरता रहा। फिर मैंने उसके मुह में ही अपना सारा माल झाड़ दिया। वो सारा माल पी गईं।

अब मैंने उसको अपनी गोद में बैठा लिया और उसके गाल चूमने लगा। फिर मैंने उसकी कुरती में हाथ डाल दिया, तो वो कुछ नहीं बोली। फिर मैंने हल्के-हल्के उसकी सलवार के ऊपर से उसकी चूत को सहलाया। आज पता नहीं क्यों उसने कोई ना-नकुर नहीं की। मैं थोड़ी देर उसके जिश्म से खेलता रहा।

फिर मैंने उसको कहा- "अब घर जाओ, देर हो जाएगी.."
Reply
01-23-2021, 12:54 PM,
#16
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
फिर मैंने उसको कहा- "अब घर जाओ, देर हो जाएगी.."

उसने कहा- "सर प्लीज... आप हमको इस परेशानी से बचा लीजिए। आप जो कहोगे में करोगी। आपकी हर बात माऊँगी। आपको कोई भी शिकायत नहीं मिलेंगी..."

मैं जानता था की अब उसके पास और कोई रास्ता नहीं है। वो जानती है की मैं हेल्प की कीमत उसकी कुंवारी चूत को फाड़कर वसूल करगा। मैंने कहा- "चिंता मत करो। मैं हैं ना..."

वो चली गई। ऋतु के जाने के बाद मैं कुछ देर सोचता रहा। अब मेरे दिमाग में कुछ और ही नया प्लान चलने लगा था। मैं अब ये तो जान ही चुका था की ऋतु मेरे आगे पूरी तरह से समर्पण कर चुकी है। जब मर्जी उसको चोद सकता है। पर अब मैं उसको ऐसे नहीं चोदना चाहता था।

मैंने तिवारी को फोन लगाया। तिवारी वो बंदा था जिसने ऋतु की मम्मी को लोन दिया था। मैंने उसको कहा की मुझे आज रात को विक्टर बार में मिलो। वो बार मेरे दोस्त का ही है जिसमें मैं कभी-कभी चला जाता हैं। मैं ठीक 9:00 बजे बार में पहुँचा, तो तिवारी वहां पहले से बैठा था। मुझे देखकर तिवारी ने कहा- "आज अचानक से मुझे कैसे याद करा आपने?"

मैंने तिवारी से कहा- "पहले एक-एक पेंग पीते हैं। फिर बात करते हैं..."

तिवारी ने मेरे पेग में आइस डालते हुए कहा- "सरजी, आप मुझे जल्दी से बताओं की क्या बात है। जब में
आपका फोन आया है मैं सोच में पड़ा है."

मैंने मुश्कुराते हुए कहा "तिवारी तुमने किसी रमेश नाम के आदमी को कोई लोन दिया है?"

सुनते ही तिवारी बोला- "हाँ सरजी दिया है। पर आप में क्यों पूछ रहे हो?"

मैंने तिवारी से कहा- "तुमको इंटरस्ट मिल रहा है या नहीं?

तिवारी ने गली देते हुए कहा- "उसकी तो मैं अब माँ चोदकर ही पैसा वसूल करेंगा.."

मैंने कहा- "शांत बैठकर बात करो, गुस्सा मत दिखाओ। मैं तेरा फैसला करवा सकता है."

सुनकर तिवारी उल्लू की तरह मुझे देखने लगा।

मैंने मुश्कुराकर कहा- "पहले मुझे सब बात सच-सच बता। तूने उसको पैसा क्या देखकर दिया था?"
-
-
तिवारी बोला "सर, मैं उस छिनाल की बातों में आ गया था..."

मैं समझा गया की वो ऋतु की माँ की बात कर रहा है। मैंने उससे अंजान बनते हए कहा- "कॉन छिनाल?"

तिवारी बोला. "उसकी रमेश की बीबी। शोभा साली अपनी चूचियां दिखाकर मेरे से पैसा ले गई और कहा की हर
महीने टाइम पर इंटरेस्ट देती रहेगी..."

मैंने भी सोचा- "इसकी दो जवान लड़कियां हैं, साली मुझसे क्या धोखा करेंगी? मैं उसकी लड़कियों को चोदकर पैमा ले लँगा.."

मेरी समझ में अब पूरा माजरा आ गया था। मैंने तिवारी को अपनी जेब से एक लाख का पैकेट निकालकर दिया
और कहा- "मैं अब जैसा बोलता है वैसा ही करता जा."
Reply
01-23-2021, 12:54 PM,
#17
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
मेरी समझ में अब पूरा माजरा आ गया था। मैंने तिवारी को अपनी जेब से एक लाख का पैकेट निकालकर दिया
और कहा- "मैं अब जैसा बोलता है वैसा ही करता जा."

तिवारी कभी मुझे और कभी पैसों को देख रहा था। उसकी समझ में नहीं आया की मैं क्या कह रहा हैं।

मैंने उसको कहा- "अपना दिमाग ज्यादा मत लगा। मेरी बात सुन। त कल ही उसका चेक बैंक में लगा दें..."

तिवारी बोला, "मैंने तो उसको 7 दिन का टाइम दिया है..."

मैंने कहा- "उल्लू के पट्टे तुझें पैसा मैं अभी दे रहा हूँ। तू 7 दिन क्या झक मरवाता रहेगा?"

तिवारी ने मुझसे कहा- "सर जी आप इन जैसे फकले लोगों के चक्कर में कहा से आ गये, माजरा क्या है?"

मैंने कहा- पहले कल चेक बैंक में लगवा, और जब तक मैं तुझे फोन नहीं कर त मेरे आफिस नहीं आना। तू मुझे जानता भी नहीं है। ये बात शोभा को नहीं बोलोगे समझा?"

तिवारी ने ही में मंडी हिला दी।

मैं वहां से घर आ गया। अगले दिन ऋतु आफिस में गुमसुम सी बैठी थी। मैंने उसको अपने केबिन में बुलाया
और पूछा- "क्या बात है?"

ऋत ने कहा- "सर, घर में सब उसी बात से परेशान हैं। इसलिए थोड़ा सा मूड खराब है और कोई बात नहीं.." फिर उसने कहा- "सर आप हमारी हेल्प करेंगे ना?"

मैंने कहा- "मैं तुमसे बाद में बात करता हैं। तुम अभी रूको जरा..." और मैंने पूरा दिन ऋतु को यह कहकर टाल दिया की मैं कुछ ना कुछ करता हूँ।

अगले दिन मैं आफिस में गया ही नहीं, मुझे कुछ काम था। ।

उसके अगले दिन में आफिस में देर से गया। तब तिवारी का मेरे पास फोन आया की शोभा का चेक बाउन्स हो
गया है।

मैंने उसको कहा की आज ही उसको लीगल नोटिस भेज दे और कल तक का टाइम दे दे..."

मैंने उस दिन भी ऋत् को कोई पाजिटिव जवाब नहीं दिया। बस उसको यही कहा की में कुछ ना कुछ करता है। टाइम बीत रहा था, ऋतु की बेचैनी बढ़ती जा रही थी। मुझे अंजू से पता चला की ऋतु के घर से उसकी मोम का भी कई बार फोन आया था। मैं तो बस अब कल का इंतजार कर रहा था।

और अगले दिन जब नाटिस शोभा को मिली तो उसका बुरा हाल हो गया। वो सीधा मेरे आफिस में आ गई। उसकी हालत ऐसी हो रही थी जैसे उसके जिश्म में खून ही नहीं हो, और था भी कुछ ऐसा ही।

मैंने कहा- क्या हुआ?

वो बोली- "तिवारी ने 7 दिन का टाइम दिया था। पर उसने तो 3 दिन में ही नोटिस भेज दिया। अब क्या होगा?" वो डर से काँप रही थी।

ऋतु ने मेरी तरफ देखते हुए कहा- "सर अब क्या होगा?"

मैंने कहा- "मैं तिवारी से बात करता हूँ... मैंने तिवारी को फोन लगाया।

तिवारी ने जो कहना था वो मैं उसको पहले ही समझा चुका था। मैंने जानबूझ कर सेल का स्पीकर आन कर दिया था, ताकी शोभा को सब सुनाई दे की क्या बात हो रही है? तिवारी ने मेरा फोन उठाकर मुझसे अंजान बनते हए कड़क आवाज में बात की। उसने मेरी बात सुनते ही मुझं साफ-साफ बोल दिया की मुझे पूरा पैसा अगर आज ही दे दो तब मैं केस वापिस ले सकता है।

मैंने उसको कहा- "एकदम से इतनी बड़ी रकम का इंतजाम कैसे हो पाएगा? प्लीज... तुम हमको कुछ दिन की मोहलत दे दो। हम पैसे का इंतजाम जल्दी कर लेंगे..."

उसने साफ-साफ मना कर दिया। तिवारी ने कहा- "मैं आज के बाद किसी भी कीमत पर केस वापिस नहीं लेगा। में तो अब शोभा को जेल भिजवाकर ही रहँगा.."

मैंने कहा- "हम तुमको अभी दुबारा फोन करते हैं...

फिर मैंने शोभा से कहा- "देखिए तिवारी कुछ नहीं सुन रहा। कुछ भी करके इसको आज ही पैसा देना होगा,
अगर नहीं दिया तो कल पोलिस आपके घर आ जाएगी.." कहकर मैंने शोभा की तरफ गौर से देखा।

शोभा ने मुझसे बिल्कुल रोते हुए कहा- “सर, हमारे पास तो काई भी इंतजाम नहीं है। हम तो सिर्फ आपकी हेल्प से ही कुछ कर सकते हैं.

मैंने ऋतु को कहा- "तुम जरा बाहर जाओ। मुझे अकेले में कुछ बात करनी है."

ऋतु बाहर चली गई।

उसके जाने के बाद मैंने शोभा से कहा- "देखिए अगर आप इस प्राब्लम से निकलना चाहते हो तो आपको मैं जैसा कह बैंसा करना होगा..."

शोभा ने कहा- "आप जो भी कहा हम करने को तैयार हैं."
Reply
01-23-2021, 12:54 PM,
#18
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
मैंने शोभा की आँखों में आँखें डालकर कहा- "मैं आपके लोन का पैसा आज ही चुका ,गा, और तिवारी से आज ही केस भी वापिस करवा दूंगा। लेकिन इसके बदले में में ऋतु को अपनी रखैल बनाकर रखूगा..."

ये सुनते ही शोभा ने मुझे गुस्से में देखा और जोर से चीखते हुए कहा- "आप जानते भी हैं की आप कितनी घटिया बात कर रहे हैं....

मैंने कहा- "मैंने सिर्फ आपको आप्षन दिया है मानो या ना मानो आपकी मी..."

शोभा बोली- "हम लोग मजबूर हैं। पर है इज्ज़त दार लोग हैं। आपसे ये उम्मीद नहीं थी की आप हमारी मजबूरी का ऐसा नाजायज फायदा उठा रहे हो। आपने इतनी घटिया बात सोची भी कैसे?"

मैंने कहा- "शोभा जी आपकी इज्जत की धज्जियां उड़ने में अब देर नहीं है। अगर तिवारी को पैसा नहीं दिया तो कल आपका क्या होगा सोच लो। मैं सिर्फ इसी शर्त पर आपकी हेल्प कर सकता हैं। अगर आप चाहती हो की
आपकी इज्ज़त का जनाजा नहीं निकले और आप जेल नहीं जाना चाहती तो आप मेरी बात मान लो। वरना मैं आपकी कोई हेल्प नहीं करेंगा। एक बात और याद रखना की अगर तिवारी ने आपको एक बार जेल में भिजवा दिया तो आपकी बेटियां तो वैसे ही सड़क पर आ जाएंगी। फिर तो उनका कोई भी आसानी से नोंच सकता है। तब आप क्या कर लोगी?"

मेरी बात सुनकर शोभा को लगा की अब उसके पास कोई और रास्ता नहीं है। वो अपना सिर झुका कर बैठी रही।

मैंने शोभा को कहा- "आप ऋतु की चिंता मत करो, ऋतु पहले से ही इस बात के लिए राजी है.."

शोभा ने बाजी में मुझे देखा और बोली- "क्या आपने उसको राजी कर लिया है?"

मैंने मुश्कुराते हुए कहा "यकीन नहीं तो पूछ लो अत से। लेकिन मैं सब काम आपकी मज़ी से करना चाहता है। में ऋतु के साथ अपनी सुहागरात मनाना चाहता हैं वो भी आपके घर पर..."

शोभा फिर से चौक गई और तिलमिलते हए बोली- "तो आप क्या चाहते हो?"

मैंने कहा- "मैं ऋतु को उसके ही घर में नई नवेली दुल्हन के लिबास में चोदूंगा। आपको मेरी सुहागरात का इंतजाम करना होगा."

शोभा की हालत तो ऐसी हो गई जैसे काटो तो खून नहीं। उसकी जबान सूखने लगी। वो बोली- "हमारे घर पर कैसे होगा ये सब? वहां तो ऋतु के पापा भी होंगे। और हम तो सिर्फ दो रूम के किराए के घर में रहते हैं। घर में एक जवान बेटी और है, कालोनी के लोग क्या कहेंगे। मैं शिल्पा (ऋतु की छोटी बहन) को क्या कहूँगी?"

मैंने कहा- "किसी को पता नहीं चलेगा। आप सिर्फ अपने पति को दो दिन के लिए सिटी से बाहर भेज दो। बाकी सब में संभाल लेंगा। मैं खुद यही चाहता था की शिल्पा को सब पता चलना चाहिये की मैं उसकी बहन को उसके ही घर में चोद रहा हैं, और उसकी माँ की मर्जी से। क्योंकी में उसको भी बाद में लाइन पर लाने की सोच रहा था..."

फिर शोभा ने कहा- "पहले आप तिवारी से बात कर लीजिए और हमको जेल जाने से बचा लीजिए। जैसा आप
कहोगे मैं वैसा ही करेंगी..."
Reply
01-23-2021, 12:54 PM,
#19
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
मैंने कहा- "आज शाम तक आपका केस फाइनल हो जाएगा। बस आप अपने पति को कल सुबह ही भेज दो, पूरे दो दिन के लिए..."

शोभा को मैंने भेज दिया।

उसके जाने के बाद मैंने ऋतु को बुलाया और कहा- "कल हमारी सुहागरात है। तुम कल आफिस नहीं आओगी.."

ऋतु ने मुझे हैरानी से देखा। मैंने उसको पूरी बात समझा दी की उसकी मम्मी से मेरी बात हो गई है, और में उसके ही घर में उसको चादूँगा। मैंने ऋतु को एक ए.टी.एम. कार्ड दिया और कहा- "कल बदिया सी लाल साड़ी और जो भी कछ लेना हो खरीद लेना, और किसी बंदिया पालर में जाकर मेकप करवा लेना मेहन्दी याद से लगवा लेना। तुम मुझे कल दुल्हन के लिबास में दिखनी चाहिए हो। समझी या नहीं?"

ऋत् ने हाँ में सिर हिलाया और चली गई।

उसके जाने के बाद मुझे एक बात और याद आ गई। मैंने उसको फोन किया और कहा- "तुम पेटीकोट सफेद कलर का ही लेना..."
ऋतु बोली- "वो किसलिए?"

मैंने कहा- "वो तुमको कल पता चल जाएगा..."

में अगले दिन की प्लानिंग करने लगा। फिर मैंने तिवारी का फोन किया की तुरंत उस नोटिस का रेफ्यूज करवा दे और शाम तक शोभा को फोन करके बता देना की उसको अब इरने की कोई जरबत नहीं है। लोन का पैसा मिल गया है।

आज आफिस में काई और काम नहीं था, मैं घर जाने के लिए निकल पड़ा। शाम को जैसे ही तिवारी का फोन शोभा के पास आया।

शोभा ने मुझे तुरंत ही फोन करके कहा- "आपने जैसा कहा था वैसा ही हो गया.."

मैंने उसको कहा- "अब तुम भी वैसा ही करो जैसा मैंने कहा है...

वो बोली- "आपने जैसा कहा है वैसा ही होगा..."

और फिर अगले दिन सुबह शोभा ने अपने पति को बाहर भेज दिया। मैंने दोपहर में शोभा को फोन किया। मैंने पूछा- "ऋतु तैयार हो रही है या नहीं?"

तब उसने कहा- "अभी हम बाजार में है, यहां से सीधा पार्लर जाएंगे.."

मैंने कहा- "उसकी फुल बाडी बैक्स जरगर करवा देना.." बयाकी मुझे पता है की ऋतु की टांगों पर बाल हैं।

शोभा ने कहा- "ठीक है करवा दूंगी.."

फिर मैंने कहा- "मैं रात को 9:00 बजे तक आ जाऊँगा..."

5:00 बजे में आफिस में सीधा घर चला गया। मैं जाकर दो घंटे सो गया क्योंकी रात को जागरण करना था। लगभग 8:00 बजे में उठा और मैंने 15 मिनट शाबर लिया और तैयार होकर घर से निकला। मैंने कार में विस्की की बोतल रखी और सीधा शोभा के घर की ओर चल दिया। में अपने साथ विस्की इसीलिए ले गया था,

क्योंकी में चुदाई से पहले जरा मूड बनाना चाहता था। शोभा का घर आ गया। मैंने घर के पास कार लगा दी

और डोरबेल बजा दी। शोभा ने दरवाजा खोला। मैं घर के अंदर दाखिल हो गया।

शोभा ने मुझसे कहा- "बैठिए."

मैं सोफे पर बैठ गया। मैंने शोभा से कहा- "ऋतु किधर है?"

उसने कहा- "दूसरे रूम में तैयार होकर बैठी है..."

मेरे लण्ड में तनाब आजा शरन हो गया। मैंने कहा- "पहले मैं जरा ड्रिंक करेंगा। तम मेरे लिए ग्लास और ठंडे पानी का इंतजाम करो..."

शोभा उठकर जाने लगी तो मैंने कहा- "शिल्पा कहां है?"

शोभा में घबराते हुए कहा "जी वो ऋतु के पास बैठी है। मैं लेकर आती है..."

मैंने कहा- "तुम यही बैठा, शिल्पा को बुला लो.." फिर शोभा से कहा- "तुम्हारा पति कब वापिस आएगा?"

उसने कहा- "वो दो दिन बाद ही आएंगे.."

मैंने हम्म्म्म कहा, फिर मैं बोला- "शोभा तुम अभी घबराई हुई लग रही हो। रिलैक्स हो जाओ.."

शोभा ने अपने चेहरा पर फेक स्माइल लाते हुए कहा- "नहीं नहीं, ऐसी कोई बात नहीं है.."

इतने में शोभा ने आवाज दी- "शिल्पा बैटा इधर आओ..."

उधर से आवाज आई- "जी मम्मी.." और शिल्पा रूम में आ गई।
Reply

01-23-2021, 12:54 PM,
#20
RE: Kamukta kahani कीमत वसूल
मैंने शिल्पा को देखते हुए अपने लण्ड पर हाथ फेरा। शिल्पा ने मेरी इस हरकत को देख लिया और फिर उसने अपनी निगाहों को नीचे कर लिया। मैं अपनी नजरों से उसका एक्सरे कर रहा था। क्या माल था चिकना नाजुक जिश्म, बड़ी-बड़ी आँखें, पतली कमर बड़ी प्यारी सी लग रही थी। उसने ब्लू कलर की सलवार कमीज पहना हुआ था। उसकी चूचियां अभी छोटी-छोटी थीं। पर उभार साफ दिख रहा था। रंग गोरा, होंठ गुलाबी। कुल मिलाकर मस्त माल थी।

मैंने अपने लण्ड पर फिर से हाथ फेरते हए उससे कहा- "इधर आओ..."

वो मेरे पास आ गई।

मैंने उसको कहा- "तुम्हारा नाम क्या है?"

उसने कहा- "जी शिल्पा..."

मैंने उसको कहा- "शिल्पा जाओ जरा किचेन में एक ग्लास और ठंडा पानी लेकर आओ..."

वो बोली- "जी." और जाने लगी।

मैंने उसको पीछे से देखा तो उसकी चाल बड़ी सेक्सी थी। उसकी गाण्ड ऊपर-नीचे हो रही थी। उसकी गाण्ड को मटकता हुआ देखना मुझे अच्छा लग रहा था।

मैंने शोभा को कहा- "तुम्हारी छोटी लड़की भी बड़ी सुंदर है..."

शोभा मेरी बात का मतलब समझ गई, पर माकुरा के बोली- "हाँ जी..."

इतने में शिल्पा ग्लास और पानी लेकर आ गई। उसने टेबल पर रख दिया और जाने लगी।

मैंने उसको कहा- "रुको... जरा एक काम और कर दो। कोई नमकीन लेकर आओ..."

वो फिर से गईं। मैं उसके चूतड़ों को उठते गिरते देखता रहा। सच में उसकी गाण्ड बड़ी मस्त थी। मन कर रहा था की इसको अपनी गोद में बैठाकर इसके हाथों से जाम पियं। पर अभी उसका नम्बर नहीं था। इसलिये मैं मन को मार कर रह गया।

शोभा सब देख रही थी। मैं भी यही चाहता था की इसको सब पता चल जाए।

फिर शिल्पा नमकीन लेकर आई। मैंने तब तक पेंग बना लिया था। मैंने उसको जाने को कहा। फिर मैंने पंग को खतम किया और दूसरा पेंग बना लिया।

मैंने शोभा से कहा- "शिल्पा को भी कहीं जाब पर क्यों नहीं लगा देती। काम करेंगी तो कछ पैसा घर में आएगा..."

शोभा ने कहा- अभी वो पद रही है पढ़ाई खतम होने के बाद जाब करेंगी।

मैंने कहा- "तुम चिता मत करो। मैं इसकी जाच कहीं अच्छी जगहा लगवा दूंगा... फिर मैंने दूसरा पेग खतम किया और शोभा से कहा- "जरा ऋतु को जाकर देखा तैयार है ना?"

शोभा उठकर दूसरे रूम में गई। दो मिनट में वापिस आकर बोली- "वो बिल्कुल तैयार है."

में मन ही मन में मश्कुरा उठा की ये अपनी लड़की को आज अपने सामने ही चुदवाते हुए देखेंगी। मैं ऋतु के रूम में गया। वहां जाते ही मुझे गुलाब के फूलों की महक महसूस होने लगी। मुझे देखते ही ऋतु पलंग पर । सिमट के बैठ गई। मैं ऋतु के पास जाकर बैठ गया और उसको बोला रिलैक्स हो जाओ, स्माइल लाओं अपने चेहरे पर मैंने उसका चेहरा अपने हाथ से ऊपर उठाया जैसे कोई चाँद हो ऐसे लग रही थी। मत वैसे भी सुंदर श्री पर दुल्हन के लिबास में उसकी खबसूरती गजब की लग रही थी। फिर मैंने उसके हाथों को अपने हाथों में लिया मेहन्दी वाले कामल मुलायम हाथों का स्पर्श पातं ही लण्ड में हलचल सी मचने लगी।

मैंने अत को कहा- "तुम आज बड़ी प्यारी लग रही हो..."

उसने शर्माकर अपना जवाब दिया।

मैंने ऋतु से कहा- "तुमने पेटीकोट किस कलर का पहना है?"

उसने कहा- "जी सफेद ही पहना है...

मैंने कहा- "हम्म्म्म ..." फिर मैंने ऋतु के होंठों पर अपने होंठों रख दिए होंठ चसते हुए मैंने अपना एक हाथ उसकी कमर में डाल दिया। उसकी कमर पर हाथ फेरा तो उसके पूरे जिश्म में कंपन होने लगी।

मैंने उसको कहा- "ऋतु मैं तुमको आज तुम्हारे ही घर में दुल्हन बनाकर चोदूंगा। कैसा लग रहा है?"

उसने कोई जवाब नहीं दिया।

सच में ये सब सोचने में कितना अजीब लग रहा है। पर नियति ने ऐसा करके दिखा दिया। मैंने ऋतु को कहा "मुझे अब अपना पति समझ कर मेरे से प्यार किया करो। मुझे में महसूस होना चाहिए की तुम मुझे अपने पति जैसा प्यार कर रही हो..'

उसने सिर हिला दिया।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 44 196,405 Yesterday, 09:17 AM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 155 1,478,000 Yesterday, 09:15 AM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Indian Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल (माँ-बेटा:-एक सच्ची घटना) desiaks 100 10,954 Yesterday, 12:01 AM
Last Post: desiaks
Thumbs Up vasna story अंजाने में बहन ने ही चुदवाया पूरा परिवार sexstories 153 2,140,233 06-18-2022, 09:38 AM
Last Post: Bharatp34
Heart Chuto ka Samundar - चूतो का समुंदर sexstories 671 5,103,039 05-14-2022, 08:54 AM
Last Post: Mohit shen
Star Antarvasna Sex Story - जादुई लकड़ी desiaks 61 138,343 05-10-2022, 03:48 AM
Last Post: Yuvraj
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 40 283,399 05-08-2022, 09:00 AM
Last Post: soumya
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 22 443,964 05-08-2022, 01:28 AM
Last Post: soumya
Star XXX Kahani मेरा सुहाना सफर-कुछ पुरानी यादें desiaks 339 406,271 04-30-2022, 01:10 AM
Last Post: soumya
Star XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता desiaks 54 213,351 04-11-2022, 02:23 PM
Last Post: desiaks



Users browsing this thread: 6 Guest(s)