Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
07-20-2020, 01:11 PM,
#11
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
अब वसीम ने नीलोफर को, अपनी तरफ खींचा और उसके नरम नरम गुलाबी होंठों को चूसने लगा…
कुछ देर बाद, नीलोफर भी गरम होने लगी और उसने भी वसीम का बराबर साथ दिया..
वसीम उसे किस करते करते, उसकी बूब्स को मैक्सी के ऊपर से ही दबाने लगा…
सलमा साइड में बैठ के, ये सब देख रही थी।
फिर वसीम ने उसके कपड़े उतरना शुरू कर दिया तो सलमा भी वसीम के पास आकर, उसके कपड़े उतारने लगी… …
नीलोफर ने जान बुझ कर अंदर कुछ नहीं पहना था तो मैक्सी उतारते ही, वो बिल्कुल “नंगी” हो गई… !!
सलमा सुंदर थी, इसमें कोई शक नहीं पर नीलोफर “जवान” थी.. ..
नीलोफर की चुचियाँ, सलमा से आधी भी नहीं थीं पर एकदम कसी हुईं थीं…
जहाँ सलमा के निप्पल, दो बच्चियां होने के कारण बड़े बड़े थे.. वहीं, नीलोफर के एकदम छोटे छोटे.. ..
खास बात ये थी की उसके निप्पल “गुलाबी” थे.. जहाँ सलमा के, भूरे..
ग़ज़ब की गोलाई लिए हुए थे, उसके दूध… !!
एकदम गोरे और कसे हुए… …
वसीम कुछ देर तक उसके दूध देख कर, मंत्रमुग्ध हो गया.. .. !!
इधर, सलमा ने वसीम के सारे कपड़े उतार दिए और वो खुद भी अपने कपड़े उतारने लगी…
अब तीनों ही, एक दूसरे के सामने नंगे खड़े थे..
वसीम की नज़र, अब नीलोफर की चूत पर पड़ी!!
उसकी चूत पर हल्के हल्के बाल थे.. ट्रिम किए हुए..
एकदम छोटी सी बच्ची जैसी चूत थी, उसकी..
उसकी चूत की फाँकें, एकदम चिपकी हुई थीं… !!
एक “अक्षत योवन” उसके सामने, बिल्कुल निर्वस्त्र खड़ा था… …
नीलोफर का बदन एकदम गोरा था, कहीं कोई, दाग ना निशान!!
दूध सी गोरी चूत पर ट्रिम किए हुए हल्के काले बाल और गोल गोल चुचियों पर गुलाबी रंग के निप्पल, अब तक वसीम को मदहोश कर चुके थे…
तभी नीलोफर पीछे मूडी, जिससे उसकी गाण्ड के दर्शन भी हो गये..
“मटके सी चिकनी गाण्ड” देख कर, वसीम से अब काबू नहीं हुआ और उसके लण्ड ने पानी छोड़ दिया.. ..
नीलोफर के हुस्न ने, वसीम का पूरी तरह “कतल” कर दिया.. ..
सलमा भी कहीं ना कहीं, नीलोफर का बदन देख कर, उसकी तारीफ किए भी ना रह सकी.. ..
एक बार लण्ड से पानी छूटने के बाद, अब वसीम ने नीलोफर को बेड पर लिटा दिया और उसकी नरम नरम चुचियों और कड़क गुलाबी निप्पल को एक के बाद एक चूसने लगा.. !!!
चुदाई की आग में जलती, नीलोफर के मुँह से फ़ौरन सिसकारियाँ निकलने लगीं।
वो – म्म्म्महह.. इस्स.. आँह… उंह… करने लगी…
अब सलमा ने नीलोफर का हाथ पकड़ कर, वसीम के लण्ड पर रख दिया तो नीलोफर धीरे धीरे, वसीम के लण्ड को सहलाने लगी…
इस पर वसीम का लण्ड तूफ़ानी रफ़्तार से, फिर से खड़ा होने लगा।
वसीम, तो जैसे अब नीलोफर के हुस्न को खा जाना चाहता था..
वो अब नीलोफर के सपाट पेट पर छोटी सी गोल नाभि से हो कर उसकी कुँवारी चूत की तरफ मुँह बढ़ाने लगा… …
उसने नीलोफर की दोनों टांगें फैला दी तो उसे उसकी गुलाबी चूत साफ साफ दिखाई देने लगी।
नीलोफर ने सलमा के कहने पर आज ही अपनी चूत के बालों को ट्रिम किया था..
अब शांत खड़ी सलमा ने नीलोफर की दोनों चुचियों को सहलाना शुरू कर दिया और उसके मुँह में जीभ घुसा कर, नीलोफर की जीभ को चाटने लगी..
वसीम ने जैसे ही, नीलोफर की चूत की दोनों होंठो को रगड़ा तो वो मस्त हो गई…
उसकी चूत, पहले से ही बहुत गीली हो चुकी थी… !!
Reply

07-20-2020, 01:11 PM,
#12
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
अब वसीम ने धीरे धीरे नीलोफर की चूत के दाने को, आहिस्ता आहिस्ता रगड़ना शुरू किया तो नीलोफर फिर से सिसकारियाँ भरने लगी..
नीलोफर की चूत कुँवारी होने के कारण, उसका छेद बहुत ही छोटा था और उसका गुलाबी रंग दिख रहा था।
अब वसीम का लण्ड, पूरा खड़ा हो गया था और वसीम के काबू में नहीं था…
उसने नीलोफर को लण्ड चूसने के लिए कहा।
नीलोफर ने आज से पहले एक दो बार वसीम के लण्ड को दूर से ही सलमा की चुदाई करते हुए देखा था।
उसका लण्ड ज़्यादातर, सलमा की चूत में या उसके मुँह में ही रहता था।
मगर, आज अपने हाथ में पकड़ के देख कर, नीलोफर बुरी तरह डर गई थी…
मैंने जैसे पहले ही कहा है की वसीम का लण्ड बहुत बड़ा और मोटा था.. जिसको, अगर एक रंडी भी देख ले तो वो भी घबरा जाएगी.. ..
पता नहीं, उसका लण्ड इतना बड़ा कैसे हो गया था।
नीलोफर ने अब सलमा के कहने पर, उसके लण्ड के ऊपर की चमड़ी को नीचे किया और उसके सुपाड़े को अपनी जीभ से चाटने लगी..
सलमा ने अब उसे पूरा लण्ड, अपने मुँह में घुसा कर चूसने के लिए कहा तो नीलोफर ने लण्ड को मुँह में तो घुसा लिया पर उसे खाँसी आने लगी।
लण्ड इतना बड़ा था के उसको कभी सलमा भी अपने मुँह मे पूरा नहीं घुसा सकी, तो बिचारी नीलोफर क्या चीज़ थी.. ..
फिर, नीलोफर जितना हो सके लण्ड को मुँह में घुसा के, ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी…
वसीम और नीलोफर, फिर 69 के पोज़िशन पर आ गए… !!
अब सलमा, वसीम के गाण्ड के छेद को चाट रही थी और अपने भोसड़े में उंगली कर रही थी..
वसीम, पूरी मदहोशी में नीलोफर की चूत को चाटने लगा…
नीलोफर बहुत जल्दी ही, वसीम के मुँह में झड़ गई।
फिर शुरू हुआ, 3 लोगों का “एक ज़बरदस्त चुदाई प्रोग्राम।”
अब वसीम उठ के नीलोफर की दोनों टाँगों के बीच बैठ गया…
सलमा ने वसीम के लण्ड को पकड़ के, नीलोफर की चूत के छेद में सटा दिया…
फिर सलमा ने अपने हाथों से, जितना हो सका नीलोफर की चूत को खोल दिया ताकि वसीम का लण्ड आराम से चूत में घुस जाए… ..
अब सलमा ने, वसीम को धक्का देने का इशारा किया तो वसीम ने एक ज़ोर का झटका मारा।
नीलोफर की चूत का छेद बहुत ही छोटा था, इसीलिए लण्ड फिसल गया…
बहुत कोशिश के बाद, जब वो कामयाब नहीं हुआ तो… …सलमा जा के तेल की शीशी ले आई..
उसने वसीम के लण्ड की तेल से अच्छी तरह मालिश की..
फिर उसने, नीलोफर की चूत में भी तेल की मालिश की और ढेर सारे तेल से, नीलोफर की चूत को भर दिया।
अब नीलोफर की चूत, तेल से लपालप भर गई।
सलमा ने फिर से नीलोफर के चूत को पूरी तरह खोल दिया और वसीम को आहिस्ता से, लण्ड घुसाने के लिए कहा..
वसीम अपने लण्ड को हाथ से पकड़ के, धीरे से नीलोफर की चूत के अंदर डालने लगा..
नीलोफर की चूत तेल से लपालप होने से, बहुत चिकनी हो गई थी.. ..
इस कारण फक का साउंड करते हुए, वसीम के लण्ड का टोपा अंदर घुस गया तो नीलोफर चीख पड़ी – मा मामा मामामाररररररररररर गाआआआआाआआइईईईई… मांहहह ह हह ह ह ह ह… आआआआआहहहहहहहह हहहहहह… निकालूऊऊऊओ ज़ाआाआाअल्दी सीईईई…
तभी सलमा, तुरंत नीलोफर की चुचियों दबाने लगी और उसके मुँह में अपनी जीभ घुसेड दी ताकि नीलोफर की आवाज़ बाहर तक ना सुनाई पड़े…
नीलोफर की चीख इतनी तेज़ निकल रही थी की सलमा को डर था, उसकी दोनों बेटियाँ कहीं उठ ना जाए…
डर तो वसीम भी गया, थोड़ा रुक गया और हाथ से नीलोफर के चूत के दाने को सहलाने लगा!!!
आज उस पर हैवान नहीं, वासना सवार थी…
कुछ देर बाद, जब नीलोफर शांत हुई तो उसने एक और झटका मारा तो लण्ड आधे से ज़्यादा चूत में घुस गया…
Reply
07-20-2020, 01:11 PM,
#13
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
इस बार नीलोफर ने और ज़ोर से चिल्लाया – उम्म्म्मममममा.. अहह… बाआआआआआआआआचाआााऊऊऊ… बचाओओओओओओ… छोडडडडडड दे, हरामीईईई… आ ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह ह…
इधर, सलमा उसकी चुचियों को सहलाती रही…
फिर वसीम ने, बिना रुके और एक और धक्का मारा तो लण्ड पूरा का पूरा घुस गया… !!
इस बार वसीम का लण्ड, उसकी सील को तोड़ते हुए बच्चेदानी से जाकर टकराया और खून का फवारा फुट पड़ा… …
नीलोफर बेहोश हो गई.. ..
ये देख कर वसीम थोड़ा घबरा गया और अपने लण्ड को निकालने लगा क्यूंकि उसने आज तक, कभी किसी लड़की की चूत नहीं फाडी थी।
वसीम जैसे ही लण्ड निकालने लगा तो सलमा ने उसे रोक लिया और बोली – जब कोई लड़की पहली बार, किसी मर्द से चुदवाती है तो ऐसा होता है… जब तुम्हारे पिता ने, पहली बार मुझे चोदा था तो मैं भी बेहोश हो गई थी… जबकि, उनका लण्ड तुमसे काफ़ी छोटा था… मगर, तुम्हारा तो लोहे की रोड जितना बड़ा और मोटा है… तुम अगर, किसी रंडी को को भी चोदो तो उसकी भी हालत खराब हो जाएगी… फिर ये तो “एक कसी हुई कुँवारी चूत” है… इस को तो बेहोश होना ही था… तुम रूको, मैं इसे पानी पिलाती हूँ…
फिर सलमा ने नीलोफर के मुँह पर पानी छिड़का और उसे थोड़ा पानी पिलाया..
तब जा के नीलोफर की जान पर जान आई।
होश संभालते ही नीलोफर ने वसीम के आगे हाथ जोड़े और बोली – प्लीज़ मुझे छोड़ दो… मुझे नहीं चुदवाना… किसी से भी, नहीं चुदवाना… मैं जिंदगी भर, कुँवारी रहूंगी… मुझे जाने दो… प्लीज़…
तब सलमा ने, उसे समझाया – मेरी प्यारी बहना, ये तो हर लड़की के साथ होता है… घबरा मत, कुछ देर बाद तुझे भी मज़ा आने लगेगा…
मगर नीलोफर नहीं मानी..
वो ज़ोर ज़ोर से रोने लगी और वो उठने की कोशिश करने लगी तो सलमा ने उसे ज़ोर से पकड़ लिया…
वो ज़ोर ज़ोर से, उसकी चुचियों को चूसने लगी।
वसीम भी धीरे धीरे, लण्ड को बाहर भीतर करने लगा.. ..
नीलोफर चिल्लाती रही.. लेकिन, इस बार वसीम नहीं रुका..
वो, उसे चोदता रहा… …
थोड़ी देर बाद, जब उसका दर्द कम हुआ तो वो भी पीछे से गाण्ड उछाल उछाल कर चुदवाने लगी।
उसे दर्द तो हो रहा था.. मगर, अब मज़ा भी आने लगा था.. ..
अब सलमा भी गरम होने लगी..
वो नीलोफर के मुँह पर, अपनी चूत को खोल के बैठ गई और उसे चाटने को बोली तो नीलोफर खूब मज़े ले ले कर अपनी बहन की चूत चाटने लगी..
थोड़ी देर बाद, नीलोफर अकड़ने लगी तो सलमा उठ गई और नीलोफर ज़ोर से चीखते हुए झड़ गई…
उसके मुँह से बस लंबी लंबी सिसकारियाँ निकल रही थीं – आआआआअ आआआआआ आआआआअराआाहहआ चोदनाआआआआआआआ… चोद मुझे… आ आ ऊऊ आआआआ… फाड़ दे मेरी चूत… सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्ईईईईईई… आँह माँ… चोद चोद चोद चोद चोदद ददद ददददद ददददद दद…
ये सुन कर, वसीम उसे और तेज़ी से चोदने लगा.. ..
ज़्यादा तेल और चूत रस के कारण चूत से पाचक पाचक की आवाज़ निकल रही थी।
अब सलमा भी काफ़ी गरम हो गई थी तो वसीम ने अपनी दो उंगलियाँ उसकी चूत में डाल के अंदर बाहर करने लगा।
सलमा भी अब सिसकारियाँ भर रही थी – आआआअहह उन्ह म्म्म्ममम हह आह उन्मह…
Reply
07-20-2020, 01:11 PM,
#14
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
10-15 मिनट चोदने के बाद, वसीम भी झड़ने वाला था तो उसने नीलोफर से पूछा की क्या करूँ तो नीलोफर ने उसे चूत में ही झड़ने के लिए कहा।
सलमा कुछ कहती, उससे पहले वसीम ज़ोर से झड़ गया और सारा वीर्य नीलोफर की चूत में ही छोड़ते हुए, उसके ऊपर ही लेट गया… …
दोनों ने एक दूसरे को कस के पकड़ लिया, जब तक वसीम का सारा मूठ उसकी चूत में नहीं गिर गया।
करीब 1-2 मिनट तक, थोड़ा थोड़ा करके वसीम का माल चूत में गिर रहा था..
करीब 10 मिनट के बाद, वसीम उठा और लण्ड को खींचा तो फक के आवाज़ के साथ ढेर सारा खून और मूठ लेके उसका लण्ड निकल पड़ा।
दर्द के कारण, नीलोफर उठ नहीं पा रही थी…
मगर बेचारी सलमा, अभी भी प्यासी थी.. !!!
उसने तुरंत ही वसीम के लण्ड को पकड़ा और अपने मुँह में डाल के चूसने लगी…
दो बार निकल जाने के कारण, इस बार वसीम का लण्ड आसानी से खड़ा नहीं हुआ…
सलमा उसके लण्ड को चूसती रही… सहलाती रही… मूठ मारती रही…
तब जाकर, 15 मिनट में वसीम का लण्ड फिर से लोहे की तरह तन गया…
सलमा ने उसे कहा – अब संभाला नहीं जाता.. जल्दी से, अपने लंड को डाल डो मेरी चूत में और इसकी प्यास बुझे दो.. तुम दोनों की चुदाई देख कर, मेरी चूत फटने को आ गई है..
वसीम ने भी देर ना करते हुए, एक ज़ोर का धक्का मार के सलमा की चूत में अपना लण्ड पेल दिया और उसे तूफ़ानी रफ़्तार से चोदने लगा।
अबकी बार वसीम ने सलमा को, पूरे 20 से 25 मिनट तक चोदा…
क्यूंकी ये वसीम का तीसरी बार था, इस बीच उसने उसकी गाण्ड भी मार ली…
सलमा भी 2 बार झड़ चुकी थी तो उसके मुँह से भी सिसकारियाँ निकल रहीं थीं – अहह ऑश यहह उन्ह… एम्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्म्महह…
कुछ देर बाद, वसीम भी उसकी चूत में ही झड़ गया और चूत को अपने वीर्य से भर दिया।
नीलोफर उनकी साइड में लेटे हुए, ये चुदाई का कार्यक्रम देख रही थी…
वो फिर से गरम होने लगी थी..
जब वसीम ने, सलमा के चूत से अपना लण्ड निकाला तो नीलोफर ने उसे पकड़ लिया और बोली – मुझे फिर से चुदवाना है…
सलमा ने ये सुनते ही कहा – आज के लिए बस इतना ही क्यूंकि ये तेरा पहली बार है और एक बार की चुदाई में, तेरी चूत का भरता बन गया है… अगर तू और चुदवायेगी तो चूत फट जाएगी और तुझे बहुत तकलीफ़ होगी…
लेकिन, नीलोफर नहीं समझ रही थी तो सलमा उसकी चूत में अपनी एक उंगली घुसाने लगी तो वो फिर से चिल्लाने लगी…
फिर सलमा ने उसे कहा – अब समझी, मैं क्या कह रही थी… तुझे इतना तगड़ा लण्ड, घर में ही मिल गया है… तू ठीक हो जा, फिर जब चाहे चुदवा सकती है… पहली बार चुदाई के बाद चूत को दो तीन दिन आराम देना पड़ता है, गुड़िया…
इधर, वसीम बाथरूम में जाकर फ्रेश होने लगा..
भले ही वो लड़का था पर तीन बार निकलने के कारण, उसकी हालत खराब हो गई थी..
उधर, सलमा ने नीलोफर की चूत को डेटोल से साफ किया और उसे एक पेनकिल्लर खिला दिया।
अब मुश्किल ये थी की नीलोफर को अपने कमरे तक कैसे पहुँचाया जाए, क्यूंकि वो चलना तो दूर की बात है ठीक से खड़ी भी नहीं हो पा रही थी।
फिर, वसीम ने उसे गोद में उठाया तो सलमा बाहर चेक करने लगी की कहीं उसकी बेटियाँ तो नहीं जाग रही हैं।
लेकिन वो दोनों, अपने कमरे में आराम से गहरी नींद मे सो रही थीं।
वसीम ने नीलोफर को उसके कमरे में ले जाकर बेड पर सुला दिया और उसको एक ज़ोरदार किस दे के, अपने कमरे में आ के सो गया..
रात बहुत हो चुकी थी…
सलमा भी नीलोफर के साथ, उसके कमरे में ही सो गई..
Reply
07-20-2020, 01:11 PM,
#15
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
जब सुबह हुई तो नीलोफर का दर्द थोड़ा कम हो गया था.. लेकिन, फिर भी वो लंगड़ा के चल रही थी.. !!
उसे लंगड़ाता हुआ देख, गुलबदन ने पूछा की क्या हुआ मासी… ?? आप, ऐसे क्यूँ चल रही हैं… ?? तो नीलोफर से पहले सलमा ने उसे बताया के वो बाथरूम में गिर गई थी, इसीलिए ऐसी चल रही है…
2-3 दिनों में नीलोफर, ठीक हो गई।
फिर क्या था, रोज़ रात को वसीम सलमा और नीलोफर को जम के चोदता था।
सलमा को डर था के कहीं दोनों बहनें “प्रेग्नेंट” ना हो जाए.. इसी डर से, वो दोनों “गर्भ निरोधक दवाएँ” खाते थे और वसीम से चुदाई का आनंद उठाते थे।
उनके घर की स्थिति, अब सामान्य हो गई थी।
वो लोग, हँसी खुशी रहने लगे… !!
वसीम सब के लिए, अक्सर कोई ना कोई गिफ्ट लाता था।
मैं भी, जब उसके घर जाता था तो हम सब मिलके हँसी मज़ाक करते थे।
ऐसे ही, 1.5 साल बीत गये…
मेरा भी उनके घर आना-जाना, थोड़ा कम हो गया था क्यूंकि उस वक़्त मैं अपने भैया और भाभी के साथ रहता था।
वहां मुझे मजबूरी में भाभी को चोदना पड़ा, मगर सिर्फ़ अपने परिवार की इज़्ज़त के खातिर…
ये एक अलग कहानी है, जो आपको अगली बार सुनाऊंगा..
सलमा की दोनों बेटियाँ, बहुत खूबसूरत थीं… !!
मेरी नज़र हमेशा, उन दोनों पर थी।
सोचता था के उन्हें एक दिन ज़रूर चोदूंगा और उनकी “कुँवारी चूत” का उद्घाटन मेरे लण्ड से ही करूँगा..
मगर मेरा सपना, सपना ही रह गया।
वसीम, सलमा और नीलोफर का रूम ऊपर था और गुलबदन और गुलनार का बेड रूम नीचे था…
एक दिन वसीम, सलमा और नीलोफर “मस्त चुदाई” कर रहे थे तो उस दिन वो लोग ग़लती से दरवाजा बंद करना भूल गये थे तो इसी कारण उनकी चुदाई की आवाज़ नीचे तक आ रही थी..
उस दिन कमरे में पानी ख़तम हो जाने के कारण, गुलनार किचन में पानी लेने गई।
जैसे ही वो हॉल में आई तो उसे कुछ अजीब तरहा की आवाज़ें सुनाई दी तो वो पहले डर गई।
फिर उसने ध्यान से सुना तो वो आवाज़ ऊपर वसीम के कमरे से आ रही थी।
गुलनार, फ़ौरन ऊपर आ गई और वसीम के कमरे में झाँक कर देखा तो उसके होश उड़ गये…
उसने देखा की जिसको वो बड़ा भाई मानती है, वही उसकी माँ और मासी को जम के चोद रहा था… …
ये देख के, उसे थोड़ा अजीब लगा।
वो भाग के अपने कमरे में आई और गुलबदन को सारी बातें बताई तो गुलबदन ने कहा के उसे पहले से ही सब कुछ मालूम है।
उसने बताया के जिस दिन मासी, लंगड़ा के चल रही थीं तो वो कोई बाथरूम में नहीं गिरी थीं… बल्कि, वसीम भैया ने उन्हें चोदा था इसलिए वो ऐसे चल रही थीं..
उसने रात को, उन लोगों को चुदाई करते हुए देख लिया था.. लेकिन, वो डर के मारे गुलनार को कुछ नहीं बता पाई के कहीं वो किसी को ना बता दे..
तभी गुलनार ने कहा के मुझे अभी समझ में आया के भैया जो हम से इतनी नफ़रत करते थे, अचानक कैसे प्यार करने लगे..
उसने गुलबदन से कहा के चल जा के देखते हैं, कैसे भैया माँ और मासी को चोदते हैं…
फिर वो दोनों, वसीम के कमरे में जा के चुपके से देखने लगे..
देखते देखते, उन दोनों की चूत भी गीली हो गई और अपने आप ही उनका हाथ चूत को सहलाने लगा.. क्यूंकि, अब वो भी जवान हो चुकी थीं.. !!!
उनकी उम्र अब तक, लगभग 18 साल हो गई थी…
फिर वो दोनों, अपने कमरे में आ गयीं और एक दूसरे को ही चूमने लगीं।
अपनी अपनी, चुचियों को मसलने लगीं।
जल्द ही, वो दोनों पूरे कपड़े उतार के, एक दूसरे की चूत में उंगली डाल के चुदाई करने लगीं…
जब उनका पानी निकल गया तो वो शांत होके सो गईं.. ..
अब जब भी उन्हें मौका मिलता तो वो उन तीनों को चुदाई करते हुए देखतीं और फिर अपने कमरे में आ के उंगली, कंगा वगेरह चूत में डाल के एक दूसरे की चूत की खुजली मिटाते थे..
ये तो अब, रोज़ का काम हो गया था।
अब वो दोनों, वसीम को “वासना और हवस की नज़र” से देखने लगीं।

एक दिन, उन दोनों ने ज़िद की वो फिल्म देखना जाना चाहतीं हैं तो सलमा ने उनको मना कर दिया।
फिर वो दोनों वसीम के पास गयीं और कहने लगीं के भैया आप माँ से बोलो ना, हमें फिल्म देखने जाने दें… तो वसीम ने सलमा से कहा के अगर ये दोनों जाना चाहते हैं तो मैं इनको ले के जाता हूँ… तो सलमा मान गई।
फिर ये तीनों, फिल्म देखने चले गये।
वसीम ने फिल्म के, 3 सीट बुक किया।
अब फिल्म चालू हो गई…
Reply
07-20-2020, 01:11 PM,
#16
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
फिल्म पुरानी और अच्छी नहीं होने के कारण, सिनेमा हॉल में कम लोग थे।
ये लोग जहाँ बैठे थे, उनके आस पास कोई नहीं बैठा था…
फिल्म में, काफ़ी सारे “बोल्ड सीन” थे..
सीन देख कर, दोनों ही वसीम से चिपक गईं।
ये सब देख कर, वसीम को भी गर्मी चढ़ने लगी।
उसने भी धीरे धीरे, उन दोनों की जांगों पर हाथ फेरना शुरू कर दिया।
उन दोनों को भी मस्ती चढ़ने लगी…
धीरे धीरे, उन दोनों ने अपनी टांगें फैला दी तो वसीम आहिस्ता से ड्रेस के ऊपर से ही, बारी बारी उनकी चूत को सहलाने लगा.. !!!
वसीम ने गुलनार के हाथ को अपने लण्ड के ऊपर रख दिया तो वो उसे पेंट के ऊपर से ही सहलाने लगी..
अब, वसीम ने गुलनार के ड्रेस के अंदर हाथ घुसा के बूब्स को दबाने लगा…
वो हॉल में ही, सिसकारियाँ भरने लगी..
फिर, हाफ टाइम हो गया तो वो तीनों आराम से बैठ गये।
वसीम बाहर जा के, उनके लिए कुछ खाने के लिए ले आया।
लेकिन, उन दोनों को तो लण्ड का चस्का लग गया था.. गुलबदन ने सारे नाश्ते को, बेग में भर दिया…
10 मिनट बाद, फिल्म चालू हुई तो इनका काम भी चालू हो गया..
वसीम ने पेंट की ज़िप खोल के अपने लण्ड को बाहर निकाला और उन दोनों को चूसने को कहा तो वो दोनों उस पर टूट पड़े.. ..
उन दोनों ने मिल के, वसीम के लण्ड को जम के चूसा…
10 मिनट बाद, वसीम झड़ने वाला था तो उसने कहा के उन दोनों में से कोई एक लण्ड को अपने मुँह में पूरा डाल दे और उसका सारा पानी पी जाए..
ये सुन कर गुलबदन ने फाटक से वसीम के लण्ड को, अपने मुँह में भर लिया.. लेकिन, बड़ा लण्ड होने के कारण पूरा अंदर तक नहीं ले पाई..
फिर, उसने सारा मूठ अपने मुँह मे भर लिया और फिर जब वसीम का पानी निकलना बंद हो गया तो उसने गुलनार के मुँह मे अपनी मुँह लगा के आधा पानी उसके मुँह के अंदर छोड़ दिया..
ऐसे ही उन दोनों ने, वसीम का सारा मूठ पी लिया…
फिर दोनों ने मिल के, वसीम के लण्ड को अच्छी तरहा से चाट के साफ कर दिया।
लेकिन, अभी भी उन दोनों की प्यास नहीं बुझी थी तो गुलबदन ने कहा के भैया हम दोनों आपके लण्ड से अपनी चूत को चुदवाना चाहती हैं..
ये सुनकर, वसीम बोला के उनकी माँ को अगर पता चल गया तो वो बहुत नाराज़ होंगीं..
लेकिन, वो दोनों ज़िद करने लगे तो वसीम ने एक प्लान बनाया…
उसने कहा के जब वो सलमा और नीलोफर को रात में चोद रहा होगा… तभी तुम दोनों दरवाजा खोल के अंदर आ जाना और सारी बातें बाहर वालों को बताने की धमकी देना… तो डर के, सलमा तुम दोनों को भी मेरे साथ चुदवाने के लिए मजबूर हो जाएगी…
फिर वो वहां से उठ के, घर के लिए निकल पड़े..
रास्ते में ही, वो तीनों खाना खा के गये।
वसीम घर पहुँचते ही, अपने कमरे में चला गया…
सलमा ने उन दोनों से पूछा के कैसी रही फिल्म.. !! ?? तो गुलबदन ने कहा के भैया बहुत अच्छे हैं… हमें फिल्म दिखाई और रेस्तरॉं में खाना भी खिलाया…
ये सुन कर सलमा बहुत खुश हुई, क्यूंकि “आज रात को आने वाले तूफान” के बारे में वो अंजान थी.. !!
फिर गुलबदन और गुलनार, अपने कमरे में चले गये..
सलमा और नीलोफर भी, खाना ख़ाके अपने अपने कमरे में चले गये।
लेकिन, गुलबदन और गुलनार को नींद कहाँ आनी थी..
वो दोनों, तो उनकी “माँ और मासी की चुदाई” का इंतज़ार करने लगीं।
हर रात की तरहा, उस दिन भी सलमा ने गुलबदन और गुलनार के कमरे में झाँक कर देखा के वो लोग सो रहे हैं या नहीं।
उसने देखा के वो दोनों सो गई हैं तो वो नीलोफर के साथ वसीम के कमरे में चली गयीं।
मगर, गुलबदन और गुलनार सोए नहीं थे.. वो, सिर्फ़ सोने का नाटक कर रहे थे..
थोड़ी देर बाद, वो दोनों भी ऊपर वसीम के कमरे के बाहर जाके खड़े हो गये और इंतज़ार करने लगे, उनकी चुदाई का…
Reply
07-20-2020, 01:12 PM,
#17
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
जैसे रोज़ होता है नीलोफर, सलमा और वसीम लोग लग गये, अपने काम में।
सलमा, वसीम का लण्ड चूस रही थी.. नीलोफर, सलमा की चूत चाट रही थी और वसीम, नीलोफर की चूत चाट रहा था..
कुछ देर बाद, वसीम ने नीलोफर की टांगें खोलीं और उसकी चूत में लण्ड पेल कर चोदने लगा..
नीलोफर, अभी भी सलमा की चूत चाट रही थी…
करीब 10 मिनट बाद, गुलबदन और गुलनार कमरे में घुस गयीं…
इन दोनों को ऐसे देख कर, सलमा और नीलोफर घबरा गयीं.. क्यूंकि वो तीनों, बिल्कुल नंगे ही चुदाई कर रहे थे..
गुलबदन ने कहा की माँ ये सब क्या चल रहा है.. !! ?? आप दोनों ने, हमें कहीं मुँह दिखाने लायक नहीं छोड़ा है.. !! वसीम भैया, आपके बेटे जैसे हैं और उनसे ही आप दोनों चुदवा रही हो…
ये सुन कर सलमा और नीलोफर, उन दोनों के पैरों पर गिर गयीं और माफी माँगने लगीं..
सलमा ने कहा के बेटी इस बारे में किसी को मत बताना.. !! आप लोग जो कहेंगे, हम करेंगे.. !!
इस पर वसीम, गुलबदन और गुलनार मन ही मन हंस रहे थे…
तभी गुलबदन ने कहा के आप लोग जो कर रहे हैं, हमें भी भैया के साथ वो करना है…
ये सुनकर सलमा को गुस्सा आया..
उसने गुलबदन के गाल पर, एक ज़ोरदार तमाचा मारा और कहने लगी – वसीम, तेरा भाई है… तुम उससे ही, चुदवाना चाहती हो.. !! बेशरम…
इस पर गुलनार बोली – वाह माँ वाह!!! हमारा तो चलो, फिर भी भाई है… आपका तो बेटा है.. !! नंगी, खुद खड़ी हो और बेशरम हमें बोल रही हो.. !! जो आप लोग कर रहे हैं, वो ग़लत नहीं है तो हम लोग अगर भैया से चुदवाना चाहते हैं तो इसमे ग़लत क्या है… ?? अगर, तुमने हमे भैया से चुदने नहीं दिया तो हम बाहर के किसी लड़कों के साथ चुदवायेंगी, तब क्या करोगी… ??
सलमा और नीलोफर दोनों ने, उन्हें बहुत समझाने की कोशिश की..
उनको दिखा ने के लिए, वसीम भी उन दोनों को समझाने का नाटक करने लगा।
लेकिन गुलबदन और गुलनार समझने के लिए तैयार ही नहीं हुए तो मजबूरन सलमा को उनकी बात माननी पड़ी..
सच बात तो ये है की असल में उन्हें समझाने जैसा, नीलोफर या सलमा के पास कुछ था ही नहीं.. !!
मगर फिर, सलमा ने कहा के वो दोनों उस के सामने ही चुदवायेंगी..
लेकिन, गुलबदन ने कहा के आप दोनों यहाँ से चले जाइए… हम अपने आप ही, भैया से चुदवा लेंगी…
सलमा क्या करती…
उसने वसीम से कहा के ये दोनों अभी बहुत ही छोटीं हैं… ज़रा धीरे से, इनको चोदना…
वसीम बोला के गुलबदन, अगर तुम्हारी माँ यहाँ रहेंगी तो हमें चुदाई मे मदद करेंगीं…
गुलबदन ने, वसीम की बात मान ली।
पहले गुलबदन चुदवाना चाहती थी तो नीलोफर, गुलनार को अपने साथ लेकर बाहर चली गई…
उन दोनों के जाने के बाद, गुलबदन ने खुद ही अपने सारे कपड़े उतार दिए और “नंगी” हो गई.. !!
उसने अंदर कुछ नहीं पहना था, तो वो बिल्कुल नंगी हो गई और अपनी दोनों टांगें, पूरी तरहा खोले हुए बेड पर लेट गई..
उसका बदन, नीलोफर की ही तरह एकदम “संगेमरमर” जैसा था.. !!
वसीम ने उसकी चूत को देखा तो वो पागल हो गया.. अभी उसकी चूत में, पूरी तरहा बाल नहीं उगे थे..
काफ़ी, “फूली हुई चूत” थी.. !!
वो झट से, उसके ऊपर टूट पड़ा।
उसने चूत को हाथ लगा के देखा तो देखा के वो बहुत ही गरम थी।
चूत के होंठों को खोल के अंदर देखा, बिल्कुल “गुलाबी” थी… मगर उंगली, कन्गे और मोमबत्ती से, रोज़ चुदाई से थोड़ी खुल गई थी..
लंड तो उसने नहीं लिया था पर अब वो “कुँवारी” नहीं थी.. !!
वसीम, उसके उपर चढ़ गया और उसकी मस्त छोटी छोटी चुचियों को दबाने और चूसने लगा..
वो, मस्त आहें भर रही थी।
सलमा साइड में बैठ के उस की सर को सहला रही थी और डर भी रही थी की क्या होगा, उसकी इस “नन्ही सी जान” का… ??
आख़िर, वो उसकी बेटी थी..
जहाँ वो खुद भी वसीम के चुदाई से चिल्ला पड़ती, वहां ये “छोटी सी चूत” का क्या हाल होगा.. !! !!
मगर, अभी डरने का क्या फायदा.. जो कुछ होना है, आज होकर ही रहेगा..
वो, अपने भूल के बारे में सोच के अंदर ही अंदर रोने लगी.. !! क्यूंकि ये जो कुछ भी आज हो रहा है, ये सलमा की ही ग़लती का नतीजा है.. !!
अगर, वो अपनी पति का घर नहीं छोड़ती तो आज उसका एक “सुखी परिवार” होता…
सोचते सोचते, उसने गुलबदन को देखा तो वो बड़े मज़े से मदहोश हो के वसीम का लण्ड चूस रही थी..
वसीम ने गुलबदन की चूत को चाट चाट के लाल कर दिया था..
Reply
07-20-2020, 01:12 PM,
#18
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
फिर गुलबदन ज़ोर से चीखी और झड़ गई.. तभी वसीम ने गुलबदन के मुँह को और तेज़ी से चोदना शुरू कर दिया क्यूंकि उसका भी लण्ड अब पानी छोड़ने को था..
5-6 धक्के के बाद, वसीम ने ढेर सारा मूठ गुलबदन के मुँह के अंदर छोड़ते हुए झड़ गया..
गुलबदन ने, सारा पानी गटक लिया..
एक बूँद भी नहीं छोड़ा…
फिर, उसने वसीम के लण्ड को चाट चाट के साफ कर दिया..
वसीम का लण्ड, अब थोड़ा सिकुड गया..
मगर, गुलबदन तो अभी भी प्यासी थी.. लेकिन, इतने देर तक लण्ड चूसने और झड़ने के बाद वो थोड़ी थक गई थी और अभी वो लण्ड को चूस के खड़ा करने के हालत में नहीं थी तो उसने अपनो माँ से कहा के वो चूस के वसीम के लण्ड को तैयार कर दे, फिर वो चुदवाएगी…
सलमा, मजबूरी में आकर वसीम के लण्ड को चूसने लगी तो वसीम ने कहा के आज के लिए, बस इतना ही… वो, बहुत थक गया है.. !!
मगर, गुलबदन नहीं मानी तो उसे भी उसकी बात माननी पड़ी और फिर सलमा ने चूसना शुरू किया..
लेकिन ज़्यादा थका होने के कारण, वसीम का लण्ड खड़ा नहीं हो पा रहा था..
सलमा ने फिर बहुत ज़ोर लगाया तो तब जा के, करीब 15-20 मिनट के बाद, उसका लण्ड खड़ा हुआ..
चोदने से पहले, सलमा ने एक पूरी तेल की बॉटल गुलबदन की चूत में डाल दी और फिर वसीम के लण्ड को भी तेल से अच्छी तरहा मालिश कर के थोड़ा नरम किया, ताकि चुदाई के वक़्त गुलबदन को ज़्यादा दर्द ना हो।
फिर, सलमा ने वसीम को आराम से घुसाने को कहा..
वसीम ने गुलबदन की टाँगों को जितना हो सके, फैला दिया।
सलमा ने गुलबदन की चूत के छेद को पूरी खोल के लंड घुसने को कहा।
वसीम ने अपने लण्ड को हाथ में पकड़ के, गुलबदन की चूत के छेद पर दबाया।
तेल की चिकनाई होते हुए भी, बहुत ही मुश्किल से सिर्फ़ आधा लण्ड ही घुस पाया।
इतने में ही गुलबदन की सांस फूलने लगी तो वसीम ने डर के लण्ड को बाहर निकाल दिया..
गुलबदन दर्द से, तड़पने लगी।
सलमा और वसीम, दोनों मिल के उसके बदन के हर हिस्से को सहलाने लगे।
कुछ देर बाद, गुलबदन शांत हुई तो अपने आप उसने अपनी टांगें खोल दी..
वसीम, फिर से उसके चूत में लण्ड को घुसाने लगा।
क्या दृश्य था.. “एक माँ, अपनी बेटी की चूत खोल रही थी, उसके भाई से ही चुदवाने के लिए”..
खैर, इस बार उसका लण्ड थोड़ा और अंदर घुस गया तो गुलबदन फिर से चिल्लाने लगी – ओममाआ माआररर ग्आईयईई…
वसीम ऐसे ही लण्ड को उसकी चूत में डाले हुए, उसे चूमता रहा..
सलमा भी अपनी बेटी, गुलबदन के बूब्स को चूस रही थी।
वसीम, उस आधे घुसे लण्ड को बाहर भीतर करने लगा।
जब गुलबदन को थोड़ा मज़ा आया तो उसने एक ज़ोर का झटका मार के, पूरे लण्ड को गुलबदन की चूत में पेल दिया और वैसे ही उसके ऊपर पड़ा रहा..
गुलबदन की आँखों से आँसू निकलने लगे.. !!
वो ज़ोर ज़ोर से रोने लगी..
कुछ देर बाद, वसीम ने उसे चोदना शुरू किया..
वो रो रही थी.. लेकिन, वसीम उसे चोदे जा रहा था..
सलमा भी, गुलबदन को सहलाने में लगी थी।
मोमबती चूत में डालना और किसी “मर्द के लण्ड” से चुदवाने में, ज़मीन आसमान का फरक है.. !!
वसीम भी बहुत थक गया था.. क्यूंकि, गुलबदन की चूत इतनी टाइट थी की उसके लण्ड में भी दर्द होने लगा था..
उसने चुदाई की स्पीड बढ़ा दी और ज़ोर ज़ोर से पेलने लगा…
गुलबदन दर्द से चिल्ला रही थी – बचाओ मुझे.. !! आह माँ.. !! मेरी चूत, फट गयी.. !! आह.. !! नहीं.. !! छोड़ दे, हरामी.. !!
उसकी तड़प देख कर, सलमा के आँखों में भी पानी आ गया..
Reply
07-20-2020, 01:12 PM,
#19
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
वसीम, बीच बीच में थक के रुक जाता था.. क्यूंकि, इस बार उसका पानी निकल नहीं रहा था..
इस बीच पता नहीं, गुलबदन कितनी बार झड़ी थी..
उसके चूत से पानी और खून बहता जा रहा था।
वसीम गुलबदन के चूत में अपना डंडा पेलता गया.. !! पेलता गया और बस पेलता गया.. !!
फिर, 30-35 मिनट के बाद वो जब झड़ने वाला था तो सलमा ने उसे कहा की तुम गुलबदन के चूत से अपना लंड निकल के मेरी चूत में डाल दो और वहीं झड़ जाना… क्यूंकि, आक़ाँशा अभी बहुत छोटी है.. !! अगर, कहीं ये प्रेग्नेंट हो गई तो हम लोग किसी को मुँह दिखाने लायक नहीं रहेंगे और हमारी सारी बातें बाहर के लोगों को पता चल जाएँगी… तुम, मेरी ही चूत में अपना पानी छोड़ देना…
ये कह के सलमा बेड पर लेट गई और अपनी टाँगों को फेला कर अपनी चूत के छेद को खोल दिया..
वसीम ने जल्दी से गुलबदन के चूत से अपना लण्ड निकल के, सलमा की चूत में घुसेड दिया और उसे चोदने लगा..
कुछ 10-20 धक्के के बाद, वसीम ने ढेर सारा पानी सलमा की चूत में छोड़ते हुए झड़ गया और उसके ऊपर ही लेट गया…
वो, काफ़ी देर तक झड़ता रहा..
फिर सलमा ने उसे बेड पर सीधा लेटा दिया और उसके लण्ड को चाट चाट के साफ कर दिया…
इस बात से, गुलबदन बहुत नाराज़ हुई।
उसने सलमा को कहा के वो फिर से चुदवाना चाहती है और लण्ड का पानी अपनी चूत में लेना चाहती है…
मगर सलमा ने उसे समझा दिया तो वो समझ गई..
फिर सलमा ने दरवाजा खोला तो नीलोफर और गुलनार, अंदर आ गए..
गुलनार कहने लगी – अब मेरी बारी तो वसीम ने उसे कहा के आज वो और किसी को चोद नहीं सकता…
फिर किसी दिन, वो गुलनार को चोद देगा..
ये सुन कर, गुलनार उदास हो गई तो सलमा ने उसे समझाया के भैया की हालत कुछ ठीक नहीं है… तू किसी दूसरे दिन, चुदवा लेना…
सबके समझाने के बाद, गुलनार मान गई।
उस रात गुलनार और नीलोफर, दोनों ने “उंगली चोदन” से एक दूसरे की प्यास बुझाई…
सुबह 11 बजे, जब में वसीम के घर पहुँचा तो सलमा ने मुझे बताया के कल रात से अचानक वसीम की तबीयत खराब हो गयी है और उसे तेज़ बुखार भी है..
मैं तुरंत वसीम के कमरे में गया तो सलमा भी मेरे साथ आ गई।
वसीम एक रज़ाई ओढ़ के, सो रहा था..
फिर मैंने उसके डॉक्टर को फोन किया तो वो इंडिया से बाहर थे।
उन्होंने मुझे वसीम को ले जाकर, उनके एक दोस्त के क्लिनिक में दिखाने के लिए कहा..
उन्होंने उस डॉक्टर को फोन करके, हमारी मीटिंग फिक्स कर दी।
मैंने वसीम की कार निकाली और उसे डॉक्टर के पास लेकर गया।
सलमा भी हमारे साथ आई थी।
डॉक्टर ने उसका चेक उप किया।
वसीम का ब्लड टेस्ट भी किया।
टेस्ट की रिपोर्ट आने के बाद, डॉक्टर ने सिर्फ़ मुझे अंदर बुला के बताया के वसीम बहुत ही कमज़ोर है.. उसका “हीमोग्लोबिन” कम हो गया है..
फिर मैंने डॉक्टर साहब से इसका कारण पूछा।
उन्होंने कहा – क्या ये बहुत ज़्यादा सेक्स करते हैं… ?? तो मैंने कहा के हाँ…
तो डॉक्टर साहब ने बताया के खाने पीने का ध्यान रखे बिना, इतना सेक्स करना सेहत के लिए ठीक नहीं हैं… इसी कारण वसीम के जिस्म से, हीमोग्लोबिन की मात्रा कम हो गयी है…
ये सुनकर मुझे टेंशन हो गया।
Reply

07-20-2020, 01:12 PM,
#20
RE: Maa Chudai Story सौतेली माँ से बदला
फिर मैंने डॉक्टर साहब से, इसके इलाज़ के बारे मे पूछा।
उन्होंने कुछ विटामिन, आइरन, वगेरह कुछ दवाई लिख के दिया और कहा के वसीम के खाने पीने का खास ख़याल रखना… वरना, ये मेडिसिन्स कुछ काम की नहीं है… रोज़ दूध में, प्रोटीन पाउडर मिला के पीने को कहा और एक खास बात, जब तक ये पूरी तरह ठीक नहीं हो जाते, इनको किसे के साथ भी सेक्स नहीं करना है.. !! आप 15 दिन बाद, वसीम को फिर से लेकर आना… हम, इनका फिर से हीमोग्लोबिन चेक करेंगे…
मैं वसीम को लेकर, घर आ गया।
उसको कमरे में सुला कर, सलमा को सारी बातें बताई और कहा के इसके खाने पीने का ठीक से ध्यान रखना पड़ेगा..
सारी बातें सुनने के बाद, सलमा समझ गई और वसीम को सेक्स करने से भी रोका।
ये बात, जब गुलनार को पता चली तो वो उदास हो गई.. क्यूंकि, उस घर में एक वही थी जिसने अभी तक अपने चूत में लण्ड का मज़ा नहीं लिया था..
वसीम ने मुझे बताया के उसने गुलनार को चोद के, इस घर में सभी की चूत फाड़ दी है।
मुझे थोड़ा बुरा लगा क्यूंकि अब तक मेरी भाभी की चुदाई का जुगाड़ भी समाप्त हो गया था..
वो, माँ बन गई थी।
(ये एक अलग कहानी है, जोकि मैं इस कहानी के बाद लिखूंगा।)
फिर, मैंने वसीम से कहा – यार, मैंने तो सोचा था के भाभी का काम हो जाने के बाद, गुलबदन और गुलनार की चूत मैं ही फ़ाड़ूंगा.. चल खैर, जाने दे.. तू मेरा दोस्त है, ये सब तेरे ही नसीब में था..
फिर वसीम ने मुझे कहा के तेरे लिए एक सर्प्राइज़ है.. मैंने सिर्फ़ गुलबदन को चोदा है, गुलनार की चूत अभी भी “कुँवारी” है.. तू चाहे तो, उसकी सील तोड़ सकता है.. इसमे, मैं तेरा मदद करूँगा.. अब मैं तो कई दिनों तक किसी को चोद नहीं सकता.. ये सुनकर, गुलनार उदास है.. तू उसकी उदासी दूर कर दे.. बल्कि यार, मैं तो कहता हूँ जब तक मैं ठीक नहीं हो जाता, तू इस घर में मेरी जगह ले ले और सभी की मस्ती से चुदाई कर.. तू भी खुश, वो सब भी खुश..
मैंने वसीम से कुछ सोचते हुए कहा – यार, गुलनार तो ठीक है.. लेकिन, तेरे बाकी सारे घर वालों की चुदाई करते करते, मैं भी तेरे जैसा ही हो जाऊंगा और यार तू तो जानता है की मुझे अपनी भाभी को भी संभालना है.. मैं सिर्फ़, गुलनार को ही चोदूंगा..
फिर 15 दिन बाद, मैं वसीम को डॉक्टर साहब की क्लिनिक पर ले कर गया।
उन्होने वसीम का ब्लड टेस्ट किया तो पता चला की अब सब कुछ ठीक हो गया था।
वसीम, अब पूरी तरहा स्वस्थ और तंदुरुस्त हो गया था…
फिर डॉक्टर साहब ने बोला – आप अब, बिल्कुल ठीक हैं।
इस पर वसीम ने सेक्स के बारे में पूछा तो डॉक्टर साहब ने हंसते हुए कहा के आप आराम से किसी के साथ भी सेक्स कर सकते हैं.. मगर, खाने पीने का ध्यान रखते हुए और रोज़ दूध पीना पड़ेगा.. अगर, आप अपनी सेहत का ख़याल नहीं रखेंगें तो फिर कैसे जावानी का मज़ा लूट सकते हैं.. मैं कुछ मेडिसिन्स लिख देता हूँ, इसे आप 15 दिन और खा लीजिएगा..
वसीम ने और मैंने डॉक्टर साहब की सारी बातें सुनी और फिर हम दोनों वहां से घर गये।
जब घर वालों ने ये बात सुनी तो सभी के चेहरे खिल गये.. क्यूंकि, 15 दिनों से जो उन सब की चूत की खुजली थी, अब वो मिटने वाली थी..
फिर वसीम ने मुझे कहा के अब तेरा सेटिंग गुलनार के साथ कैसे करना है, इसके लिए मुझे एक प्लान बनाना पड़ेगा।
मैं एक काम करता हूँ, इस सनडे को गुलबदन और गुलनार को लेकर मेरे फार्म हाउस में पिक्निक के बहाने चला जाऊंगा.. इसके लिए, मैं सलमा से बात करूँगा.. तू बस, जाने के लिए तैयार हो जा.. बाकी सब, मैं संभाल लूँगा..
उस दिन, रात भर वसीम ने सलमा, नीलोफर और गुलबदन को जम के चोदा और अपनी भी 15 दिनों का आग बुझाई।
जब गुलनार की बारी आई तो उसने गुलनार को अकेले में बुला कर कहा – तेरे लिए, एक सर्प्राइज़ है.. तुझे मेरा दोस्त, विनय कैसा लगता है..
तो गुलनार ने कहा के ठीक लगते हैं..
फिर वसीम ने कहा – इस सनडे तुम, गुलबदन, मैं और मेरा दोस्त विनय चारों मिलकर पिक्निक में जाएँगे और वहां मैं तुझे उससे चुदवा दूँगा.. वो भी, मेरी तरहा एक बहुत बड़ा चुड़क्कड़ है.. तुझे मुझ से भी ज़्यादा, मज़ा देगा, वो.. ये बात किसी को नहीं बताना.. यहाँ तक के, गुलबदन को भी नहीं..
ये सुनते ही गुलनार मान गई और वो सनडे का इंतज़ार करने लगी..
जैसे, मैंने आप लोगों को पिछले भाग में बताया था के वसीम की तबीयत खराब हो गई थी और वो 15 दिनों तक किसी को नहीं चोद सकता था।
इन 15 दिनों में, गुलनार से मेरी बहुत अच्छी दोस्ती हो गई थी।
पहले तो, वो मुझ से डर डर के बात करती थी क्यूंकि मैं वसीम का दोस्त था और उससे काफ़ी बड़ा भी था।
लेकिन, अब वो मुझ से पूरी तरहा खुल के बात करती है।
मैं बात करते करते, उसके जिस्म पर हाथ मार देता था और वो कुछ नहीं कहती थी।
सो, सनडे को हम चारों सुबह 7 बजे फार्म हाउस के लिए निकल गये…
वसीम ने मुझे मेरे भैया के घर से, पिक-अप किया।
घर में भाभी की देखभाल करने के लिए, उनकी चचेरी बहन रिचा आ गई थी।
भाभी के मदद से, मैं रिचा को भी चोदा रहा था…
(ये कहानी मैं आप लोगों को, बाद मे बताऊँगा।)
जैसे ही, वसीम मुझे लेने आया तो भाभी ने मुझे पूछा – देवर जी, आप कहाँ जा रहे हो… ??
मैंने कहा – भाभी, मैं वसीम के साथ, उसके फार्म हाउस में जा रहा हूँ… रात को नहीं लौटूंगा…
भाभी ने कहा – अगर, ऐसी बात है तो ऋचा को भी साथ ले जाओ… उसका भी मन बहल जाएगा और आप दोनों का “हनीमून” भी हो जाएगा…
अब मैंने भाभी से झूठ बोल दिया के हमारे साथ बहुत सारे लड़के जा रहे हैं… ऐसे में ऋचा का वहां जान, ठीक नहीं होगा… और फिर आप की देखभाल कौन करेगा…
भाभी मान गईं और मैं बाहर आ गया।
मेरे साथ साथ, ऋचा भी मुझे बाहर छोड़ने आ गई।
वसीम को, ऋचा वाली बात मालूम थी।
उसने ऋचा को देखा तो मुझसे पूछने लगा – क्या ये भी हमारे साथ आएगी… ??
मैंने कहा – नहीं यार, ये बस मुझे टाटा कहने आई है।
वसीम बोला – फिर ठीक है… आज तो तुझे गुलनार के साथ “रासलीला” माननी है… ऋचा को, फिर किसी दिन लेके जाएँगे…
फिर हम लोग, वहां से निकल गये।
वसीम और मैं आगे बैठे थे।
गुलबदन और गुलनार, पीछे के सीट पर बैठे थे।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Raj Sharma Stories जलती चट्टान desiaks 72 8,924 08-13-2020, 01:29 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा sexstories 87 526,015 08-12-2020, 12:49 AM
Last Post: desiaks
Star Incest Kahani उस प्यार की तलाश में sexstories 84 184,089 08-10-2020, 11:46 AM
Last Post: AK4006970
  स्कूल में मस्ती-२ सेक्स कहानियाँ desiaks 1 13,279 08-09-2020, 02:37 PM
Last Post: sonam2006
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा desiaks 18 49,329 08-09-2020, 02:19 PM
Last Post: sonam2006
Star Chodan Kahani रिक्शेवाले सब कमीने sexstories 15 68,436 08-09-2020, 02:16 PM
Last Post: sonam2006
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी desiaks 3 41,386 08-09-2020, 02:14 PM
Last Post: sonam2006
  पारिवारिक चुदाई की कहानी Sonaligupta678 20 184,024 08-09-2020, 02:06 PM
Last Post: sonam2006
Lightbulb Hindi Chudai Kahani मेरी चालू बीवी desiaks 204 42,680 08-08-2020, 02:00 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर sexstories 89 169,908 08-08-2020, 07:12 AM
Last Post: Romanreign1



Users browsing this thread: 3 Guest(s)