Maa ki chudai मॉं की मस्ती
11-24-2017, 01:34 PM,
#41
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
रमण बोला अब ये नही हो सकता और उसने आरती को अपनी बाहों मे जाकड़ लिया,आरती उसकी पकड़ से निकलने की नाकाम कोशिस करने लगी,हालाँकि उसकी कोशिस मे बहुत ज़्यादा दम भी नही था.

फिर रमण ने अपने होंठ पहले तो आरती के गालों पर रख दिए फिर वहाँ से हटा कर दूसरे गाल पर रख दिए और आरती के दोनो गालों की चूमि ले कर आरती को छोड़ दिया,आरती एकदम सकपका गयी,उसे उम्मीद नही थी कि रमण इतना आगे बढ़ कर उसको ऐसे ही छोड़ देगा.

तभी रमण फिर से आगे बढ़ा और इस बार आरती को अपनी बाहों मे ले कर अपने होंठ उसके नरम और नज़ूक होंठों पर रख दिए,फिर कुछ देर तक ऐसे ही किस करने के बाद एकदम से आरती को वहीं किचेन मे छोड़ कर बाहर आ गया.

रमण के इस अप्रायाशित किस से आरती एकदम हाकी-बक्की रह गयी,फिर जब उसको अहसास हुआ कि रमण ने आज उसके लबों पर किस किया है,तो वो एकदम से शरम के मारे लाल हो गयी,फिर आरती ने अपने कपड़े ठीक किए और स्नॅक्स ले कर बाहर आ गयी,बाहर जैसे ही उसकी नज़र रमण से मिली रमण ने अपनी एक आँख मारी तो आरती जल्दी से दूसरी तरफ देखने लगी ,फिर उसने चोर निगाहो से मनु की तरफ देखा कि वो देख तो नही रहा,पेर वो नही देख रहा था,तो उसको कुछ सुकून मिला.

अब वो 3नो वहीं पर बैठ गये पिक्चर शुरू हो गयी थी,पर आरती के दिल मे अलग ही उथल-पुथल मची हुई थी कि आज जो रमण ने उसको किस किया है ,इसका आगे क्या परिणाम होगा,फिर उसने सोचा कि मनु को तो कोई एतराज़ ही नही है,और उसको एतराज़ नही है और अरविंद को कोई बताएगा नही तो आरती के दिल को कुछ सुकून मिला.

पिक्चर जब मर्डर जैसे हॉट हो और उसमे जॅक्वलिन फर्नॅंडेज़ जैसी हॉट हेरोयिन के एमरान के साथ हॉट-2 सीन हों तो मज़ा तो आ ही जाता है,ये देख कर रमण का और मनु का लंड उनकी पॅंट मे तंबू बन गया था और आरती की साँसे भी कुछ तेज़ चलने लगी थी.

कुछ ही देर मे मूवी ख़तम भी हो गयी पर उसका एफेक्ट उन सभी पर था,तब मनु ने कहा कि मैं खाना ऑर्डर कर देता हूँ,वो कुछ देर मे आ जाएगा.

रमण बोला कि यार तब तक 1-1 बियर ही हो जाए ,मनु ने कहा पर घर पर तो बियर है नही,यहाँ तो सिर्फ़ विस्की ही है,रमण ने कहा कि मे लाया हूँ ना कार मे रखी हैं और वो अपनी कार से 6 बोतल बियर की निकाल लाया.

तब मनु ने कहा कि ये ठंडी तो नही हैं,मम्मी आप इनको फ्रीज़र मे रख दो जल्दी ठंडी हो जाएँगी.

आरती बोली वो तो ठीक है पर ये इतनी सारी किस लिए ,रमण ने कहा कि आप ठंडी तो करो ,ज़रूरी नही है कि सारी ही पी जाए.आरती वो बीटल फ्रीज़र मे रख आती है,तब तक मनु खाने का ऑर्डर कर देता है.

तब रमण बोला कि यार तब तक 1-1 पेग ही हो जाए,मनु बोला कि वो तो ठीक है पर मम्मी मना कर देगी,आप ही कहो,तब तक आरती रूम मे आ गयी थी रमण बोला कि भाभी जी जब तक ये ठंडी होती है 1-1 पेग ले लें क्या?

आरती ने कहा कि नही यहाँ पर विस्की नही पी जाएगी,

रमण बोला कि सिर्फ़ 1-1 ही लेंगे वो भी छोटा-2 ,आज तो कम से कम हमारी बात मान लीजिए.तब आरती ने कहा कि ठीक है पर बिल्कुल स्माल ही लेना.
Reply

11-24-2017, 01:34 PM,
#42
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
फिर आरती अरविंद की विस्की की बोतल निकाल कर लाती है तब तक मनु भी 3 ग्लास ले आता है,आरती 3 ग्लास देख कर बोली कि ये 3 ग्लास क्यों लाए हो?मनु ने कहा की आप नही लोगि क्या.

आरती-नही मैं ये नही लूँगी,तब रमण ने कहा कि ठीक है फिर कोई भी ये नही लेगा आप वो बोतल ही निकाल लाओ अब तो कुछ ठंडी हो गयी होंगी,आरती बोली कि हां ये ठीक है,फिर वो पहले कुछ स्नॅक्स लाई,और फिर वो बियर भी ले आई

इस बीच मनु ने टेबल पर सब कुछ अरेंज कर के रख दिया,जब आरती वापिस आई तो रमण ने कहा कि भाभी जी अब बियर पीने मे तो आपको कोई एतराज़ नही है ना.

आरती बोली ऐसी तो कोई बात नही है तुम लोगों का साथ देने के लिए मे भी थोड़ी सी ले ही लोंगी.

ये सुन कर रमण ने कहा कि ठीक है मैं आप के लिए भी डालता हूँ,और फिर तीनो जने धीरे-2 बियर के साथ स्नॅक्स लेने लगे,पर इस चुप्पी को मनु ने तोड़ा और बोला कि रमण भैया मूवी बड़ी अच्छी थी,हेरोयिन तो जबरदस्त लग रही थी.

रमण ने कहा कि कहाँ यार भाभी जी के आगे तो वो हेरोयिन पानी भरती है,आज जिस रूप मे भाभी जी हैं उनके आगे वो क्या लगती है,क्यों मैं सही कह रहा हूँ ना.

ये सुन कर मनु ने कहा कि हां भैया आज तो मम्मी भी किसी भी हेरोयिन को मात दे रही है,आरती जो अभी तक ये सब सुन रही थी अब बोली कि ये तुम लोग क्या फालतू की बाते कर रहे हो ,मूवी के बीच मे मैं कहाँ से आ गयी.

रमण बोला कि सच मे भाभी जी ये हेरोयिन क्या चीज़ हैं, ऐसी हेरोयिन आपकी नेतुरल खूबसूरती के आगे पानी भरती हैं.अगर आप भी इनकी तरह से आउटफिट्स पहनो ना तो आप इनसे कहीं ज़्यादा स्मार्ट और सेक्सी लगोगी.

आरती आरे बस-2 ये कुछ ज़्यादा ही हो रहा है.

मनु-नही मम्मी रमण भैया सही कह रहे हैं,आप भी ऐसी ड्रेसस ले आओ और पहनो तो आप इन सब से ज़्यादा सेक्सी लगोगी.

आरती हट बदमाश तू भी आज कल बहुत बोलने लग गया है.

इतने मे रमण ने कहा कि अब मग खाली हो गये आप बाकी की बोतल भी ले आओ.आरती उधर बियर लेने गयी ,इधर रमण ने सबके मग्स मे थोड़ी-2 विस्की डाल दी,जब आरती बोलल्स ले आई तो उसने जल्दी से उसी विस्की मे बियर भी मिला दी.

फिर ड्रिंक्स का नया दौर शुरू हो गया,रमण ने कहा कि भाभी जी आज आप ने हमे कंपनी दे कर जो हमारे उपर अहसान किया है,मैं बता नही सकता.आप के साथ बैठ कर मूवी देखने मे बहुत मज़ा आ या.

आरती सब समझ रही थी कि रमण कौन्से मज़े की बात कर रहा है,वैसे आज उसको भी रमण के यूँ किस करने से जो अनुभूति हुई थी,उसका जवाब नही था,और वो इसीलिए अब भी वहीं बैठी थी.

रमण ने बात एक बार फिर मूवी की तरफ मोड़ दी और कहा कि आज कल हेरोयिन इतनी सुंदर नही होती सारा कमाल तो मेकप का ही होता है,और रही सही कसर कपड़े पूरी कर देते हैं.

मनु -आप बात तो सही कह रहे हो भैया.आप क्या कहती हो मम्मी?

आरती-मैं क्या कहूँगी तुम लोग जो कह रहे हो सही है.

रमण -तो आप भी मानती हैं ना कि अगर आप भी ऐसे ही मेकप करेंगी और ऐसे ही कपड़े पहनेंगी तो आप इन से ज़्यादा सुन्दर लगेंगी.

अब आरती पर तोड़ा -2 शराब का सुरूर चढ़ने लगा था और फिर अपनी सुंदरता के बारे मे किसी से भी सुन-ना किस औरत को अच्छा नही लगता,आरती बोली कि शायद ऐसा ही हो.

रमण-तो फिर ये तय रहा कि आगे से आप घर पर ऐसे ही सुंदर बन कर ही रहेंगी,मनु देख लो अब भाभी जी ने तुम्हारे सामने हामी भरी है,अब ये मना नही कर सकती.

मनु-हां मा आप अब ऐसे ही आउटफिट पहना करो,बल्कि मे तो कहूँगा कि ये शुरुआत आप अभी से करो.

रमण-सही बात है,आप अभी कोई ऐसा आउटफिट पहन कर आओ जो इस फिल्म की हेरोयिन से मिलता हो.

आरती अब तक कुछ-2 मस्ती मे आ ही गयी थी,वो बोली कि तुम लोग सही कह रहे हो मैं कोई इन हेरोइनो से कम थोड़ी हूँ,मैं भी इतनी सेक्सी लग सकती हूँ,मैं अभी आती हूँ कपड़े बदल कर.
Reply
11-24-2017, 01:34 PM,
#43
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
आरती वहाँ से निकल कर अपने रूम मे आ गयी,आज वो बहुत खुस थी,और थोड़ी नशे मे भी थी,इसलिए रूम मे आते ही उसने अपने सारे कपड़े उतार दिए,अब वो सिर्फ़ ब्रा और पेंटी मे थी,उसने फिर अपनी आल्मिरा मे से ड्रेस देखनी शुरू की,वहाँ पर बहुत सारी वेस्टर्न ड्रेसस थी जो बहुत सुंदर-2 थी,पर उनमे से एक भी अल्ट्रा मॉडर्न नही थी,जैसे कि फिल्म की हेरोयिन ने पहनी थी,फिर वो अपने उन कपड़ों मे देखने लगी जो पुराने थे,उनमे उसे एक मिक्री मिनी स्कर्ट और बॉब्बी स्टाइल टॉप नज़र आया,जिसकी स्लीव्स नही थी,उसने वो निकाल लिया पर अब जब वो टॉप पहनने लगी तो वो उसको फँस ही नही रहा था,फिर उसने किसी तरह से पहन लिया हालाँकि वो बहुत छोटा था और उसमे उसके मम्मे समा नही रहे थे,पर अब दूसरी प्राब्लम शुरू हो गयी,उसमे से उसकी ब्रा पूरी ही नज़र आ रही थी,और उस ड्रेस की शो खराब कर रही थी,अब वो क्या करे,तो उसने वो टॉप उतार दिया पर कोई और ड्रेस नही मिल रही थी,इसलिए पहन-ना तो कुछ था ही तब एक ही उपाय था कि वो अपनी ब्रा उतार दे तो आरती ने अपनी ब्रा भी निकाल दी ,ब्रा के निकलते ही उसके मोटे-2 चुचे एकदम से जैसे जॅंगल से कबूतर निकलते हैं,ऐसे बाहर आ गये.

अब आरती ने वो टॉप दुबारा पहन लिया,अब तो वो उस टॉप मे ऐसे लग रही थी कि कोई फिल्मी हेरोयिन भी क्या होगी,और उपर से ब्रा ना होने की वजह से उसकी मोटी-2 चुचियाँ तो टॉप को फाड़ कर बाहर आने को उतारू थी,वैसे भी कुछ तो शराब का नशा और कुछ वासना के नशे के कारण उसकी चुचियाँ और भी ज़्यादा फूल गयी थी.

अब आरती ने वो मिक्री मिनी स्कर्ट डाली,तो वो तो बिल्कुल जानदार माल नज़र आ रही थी,फिर उसने अपने आप को शीशे मे देखा तो जो प्राब्लम टॉप के साथ थी वो ही स्कर्ट के साथ भी थी,पर टॉप के लिए तो उसने ब्रा ही उतार दी थी,पर अब अगर वो स्कर्ट जिसमे से उसकी पैंटी बाहर नज़र आ रही थी वो पैंटी हटा ती है तो उसकी चूत ज़रा सा झुकने पर ही खुल कर नज़र आ सकती थी,उसने सोचा कि पहले ट्राइ करती हूँ कि पैंटी हटाने से कैसा लगता है,पर जैसे ही पैंटी हटाई गजब हो गया अब तो वो बिल्कुल ही नंगी लग रही थी,फिर उसने वहाँ पर उसी आल्मिरा मे देखना शुरू किया तो उसको वहाँ पर ही एक बहुत छोटी और पुरानी पैंटी मिल गयी जो कि स्कीन कलर की भी थी,उसने सोचा कि ये ट्राइ कर लेनी चाहिए,जब वो पहनी तो वो उसको ठीक लगी,अब आरती ने अपने उपर थोड़ा सा मेकप किया और फिर अपने आप को दुबारा शीशे मे देखा तो एक बार तो वो खुद ही अपने आप को नही पहचान पाई. 



आरती ने जब खुद को शीसे मे देखा तो वो खुद को ही बहुत हॉट लग रही थी,वो अपने आप पर ही फिदा हो रही थी,फिर भी आरती ने अपनी ड्रेस के हिसाब से अपने आप को और भी बढ़िया तरह से मेकप किया,आज आरती अपने आप को जितनी सुंदर वो थी उस-से भी ज़्यादा खूबशूरत दिखाना चाह रही थी,वो सेक्सी ड्रेस के साथ-2 मेकप मे भी एक सेक्सी पुट ले आई.अब तो वो हवा मे उड़ रही थी,फिर जब उसको लगा कि अब बाहर चल कर उन दोनो लोगों को दिखाना चाहिए कि वो भी किसी भी सेक्सी हेरोयिन से कम नही है तो वो बाहर आ गयी ,और सीधे ही ड्रॉयिंग रूम मे पहुँच गयी,जहाँ वो दोनो ही बैठे थे और बियर चुसक रहे थे और आपस मे बातें भी कर रहे थे,

हालाँकि उनका टॉपिक लड़कियाँ ही था,वो आपस मे आज आरती के बारे मे ही बातें कर रहे थे,कि वो अब धीरे-2 उनके रंग मे रंग रही है,और मनु बता रहा था कि उसने कैसे अपनी माँ को आज को पार्टी को पूरी तरह से एंजाय करने के लिए तैयार किया था,मनु ने रमण को बताया कि अब उसकी माँ भी कह रही है कि कोई उसके साथ थोड़ा फ्लर्ट करे,और आज रमण के पास पूरा मौका है कि वो उसकी माँ के साथ फ्लर्ट करके उसको एंजाय कर सके.

रमण भी इस बात को समझ रहा था कि आज जैसा मौका फिर हाथ नही आने वाला,इसलिए वो भी तैयार था कि कैसे भी करके आज आरती से फुल मज़े ले ही लिए जाएँ ,इसलिए उसने मनु को बोल कर उसका हॅंडीकॅम और डिजिकम दोनो मंगवा लिए थे और उनको सॅट करके तैयार कर लिया था,आज रमण ने जो रिस्क आरती को किस करके लिया था अगर आज वो इस-से आगे नही बढ़ा तो ये मौका फिर उसको नही मिलने वाला था,ये रमण अच्छी तरह से जानता था,और फिर जब बेटा खुद अपनी मा को उस-से चुदवाने को तैयार है और माँ भी चुदने के लिए राज़ी है तो फिर उसकी तो पाँचो उंगलियाँ घी मे और लंड चूत मे घुसने को तैयार ही है.
Reply
11-24-2017, 01:34 PM,
#44
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
आरती कमरे मे तो आ गयी पर वो दोनो तो अपने आप मे ही बीज़ी थे तब उसने आगे आ कर कहा कि अब बताओ तुम लोग कि मैं कैसे लग रही हूँ,वो दोनो आरती की आवाज़ सुन कर उसकी तरफ देखते हैं तो उन की ज़ुबान तो तालू से ही चिपक जाती है और मूह खुला रह जाता है साथ ही साथ आँखें जो हैं वो फॅट जाती हैं,इस टाइम उन दोनो की हालत देखने लायक थी वो दोनो तो आरती के इस सेक्सी रूप को देख कर हक्के बक्के ही हो जाते हैं .

जब वो दोनो कुछ भी नही बोलते और आरती को सिर्फ़ देखते ही रहते हैं तब आरती ने बोला कि क्या हुआ क्या मैं सुंदर नही लग रही,तब जा कर उन दोनो को होश आता है,तब रमण बोला कि आप तो सुंदर क्या पता नही उससे भी कही ज़्यादा लग रही हो,बल्कि आज तो आप आरती भाभी जी ही नही लग रही,किसी स्वर्ग लोक की अप्सरा की तरह से लग रही हो.

उधार मनु ने जब अपनी मा को इस सेक्सी रूप मे देखा तो उसका लंड एकदम से अपनी पॅंट मे खड़ा हो गया,उसको अपनी माँ के मोटे-2 मम्मे उसके टॉप से बिल्कुल ही बाहर नज़र आ रहे थे,उसका दिल कर रहा था कि इन मोटे-2 मम्मों को पकड़ के खूब दबाऊ और इनमे से दूध निकाल लूँ,पेर आरती क्यूंकी उसकी माँ थी इसलिए वो ऐसा कुछ नही कर सकता था,पर दिल की सोचों ने ही उसके लंड को खड़ा होने पर मजबूर कर दिया था.

मनु बोला कि मा अब तो तुम जॅक्वलिन फर्नॅंडेज़.से भी कहीं ज़्यादा सुंदर और शानदार लग रही हो,वो तो तुम्हारे इस रूप के आगे कुछ भी नही है.

रमण का लंड भी आरती को ऐसे सेक्सी और नंगे रूप मे देख कर खड़ा हो गया था,और उसको ये विश्वास भी हो गया था कि आज की रात तो आरती की चूत का स्वाद उसके लंड को ज़रूर मिल ही जाएगा.

तब मनु ने आगे बढ़ कर अपनी माँ का हाथ पकड़ लिया और फिर उसके गालों पर एक चुम्मा ले लिया,ये देख कर रमण बोला कि ये तुम ने क्या किया,तब मनु बोला कि माँ आज इतनी सुंदर लग रही है कि मैं आपने आप को उसकी चुम्मि लेने से नही रोक सका,तब रमण ने कहा कि सुंदर तो भाभी जी मुझे भी लग रही हैं तो क्या मैं भी उनकी चुम्मि ले सकता हूँ,आरती ये सुन कर शरमा गयी पर मनु बोला कि ये तो आपकी मर्ज़ी है,मुझे तो जैसा लगा मैने किया.

अब ये तो रमण को खुला निमंत्रण था कि वो आगे बढ़े और आरती को किस करे और वो ऐसे मौके खोता नही था,इसलिए जैसे ही मनु ने ये कहा वो आगे बढ़ा और उसने आरती को कस के पकड़ लिया और उसके गरमा गरम लाल-2 होठों पर अपने सुलगते हुए होठ रख दिए और उसको किस करने लगा,आरती भी एकदम से समझ नही पाई कि ये क्या हुआ पर जब तक उसको समझ आता तब तक रमण के होंठ उसके होंठों से चिपक गये थे और वो उनको चूसने लगा था,आरती को इसमे मज़ा तो आ रहा था पर क्यूंकी उसका बेटा मनु भी सामने बैठा था इसलिए वो अपने आप को छुड़ाने की कोशिस करने लगी पर रमण ने उसको अपनी मजबूत बाजुओ के घेरे मे ले रखा था इसलिए वो छूट नही पाई,तभी रमण ने अपने होंठ आरती के होठों से हटा लिए और उसको अपनी बाहों की क़ैद से आज़ाद कर दिया.
Reply
11-24-2017, 01:34 PM,
#45
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
इधर जब रमण ने आरती को किस करना शुरू किया तो ये देख कर मनु का लोड्‍ा तो पॅंट को फाड़ कर बाहर आने को छटपटाने लगा ,तब उसका और कोई बस नही चला तो वो अपने हाथ को पॅंट के उपर से ही लंड पर ले गया और उसको सहलाने लगा,मनु को रमण के द्वारा अपनी माँ को किस करते हुए देखने मे बहुत मज़ा आ रहा था और वो कह रहा था कि रमण इससे भी ज़्यादा कुछ करे.

जब रमण आरती को पकड़ कर किस कर रहा था तब उसके हाथ भी आरती के जिस्म का मुआयना कर रहे थे,और उसको बड़ा ही मज़ा आ रहा था,और उसकी इस हरकत से आरती के जिस्म का तापमान भी बढ़ता जा रहा था,पर सारा कारण ये था कि मनु भी वहीं बैठा था और चाहे कितना भी खुलापन हो पर इतना नही था कि आरती अपने बेटे के सामने ही खुल कर अपना जिस्म किसी को भी सोन्प दे,इसलिए वो ज़्यादा कुछ भी नही कर रही थी.

तो जब रमण ने आरती को बंधन से आज़ाद कर दिया तो पहले तो आरती ने बहुत गहरी-2 साँसें ले कर अपने आप को व्यवस्थित किया,फिर वो सोचने लगी कि ये रमण ने उसके साथ क्या किया तो उसका चेहरा शरम से लाल गुलाबी हो गया,वो रमण से बोली कि ये तुमने क्या किया तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मुझे ऐसे किस करने की.

तब रमण बोला कि वो तो जो उसके दिल मे था उसका इज़हार कर रहा था,यही बात तो मनु ने कही थी,इसलिए उसने वही किया जो उसको उसके दिल ने कहा,

आरती ये सुन कर चुप हो गयी ,मनु ने कहा कि मम्मी रमण भैया सही कह रहे हैं,

आरती बोली कि हां तुम दोनो ही सही हो,तुम दोनो ऐसे हरकतें करोगे तो मैं यहाँ से जा रही हूँ.

रमण-आरे भाभी जी आप तो नाराज़ हो रही हैं आप लग ही ऐसे रही थी कि मैं आपने आप को आपको किस करने से नही रोक सका,इसलिए ये हो गया आगे से ऐसा नही होगा,पर ये सच है कि मैं आज आपको देख कर आपने आप पर काबू नही रख पा रहा हूँ,अच्छा चलो इसी ख़ुसी मे एक एक पेग और हो जाए.मनु ने भी कहा कि हां आज मेरी मम्मी की जवानी की खुशी मे एक-2 और हो ही जाए.पर पहले ऐसा करते हैं कि अपने कैमरे से अपनी मा के इस नशीले रूप की कुछ फोटुस ही ले लो.मनु ने कहा कि हां ये ठीक है,मुझे भी याद रहेगा कि मेरी मम्मी इस उमर मे भी इतनी सेक्सी लग रही है,मैं फोटो लेता हूँ,ये कह कर उसने झट से अपना डिजिकम निकाला और अपनी मा की फोटुस लेने लगा,आरती को कुछ भी कहने और सुनने का मौका ही नही मिला.

आरती बोली कि नही अब और नही वैसे ही ज़्यादा हो गयी है,इसलिए ही तुम लोग ऐसी हरकतें कर रहे हो.

रमण और मनु एक साथ बोले कि नही ये शराब का नही आपके रूप का नशा है,जो कि हमारे उपर चढ़ गया था,अब एक-2 पग लेने से ये ठीक हो जाएगा.

मनु ने भी कहा कि प्लीज़ मम्मी मान जाओ आज आपकी इस सेक्सी सुंदरता के नाम ही एक जाम हो जाए.

इतना कहने पर आरती मान गयी और बोली कि बस एक ही और लेंगे,उसके बाद नही.

दोनो ने कहा कि ठीक है

दोनो की हालत इस टाइम बहुत ही टाइट हो रही थी,दोनो पूरी तरह से गरम थे,बल्कि दोनो नही तीनो ही आरती भी तो पूरी तरह से चदासि हो रही थी,उन दोनो के लंड तो बुरी तरह से तने ही हुए थे,साथ ही साथ आरती के मम्मे भी तने हुए ही थे और उसकी चूत से भी पानी टपक रहा था,इस टाइम उसकी चूत मे बहुत खुजली हो रही थी.

रमण ने जल्दी से तीन पेग बनाए और इस बार भी उसने चुपके से तीनो मे विस्की भी मिला दी थी,जिससे कि थोड़ा सुरूर और बढ़ जाए,और फिर उसने सबको कहा कि अपने -2 ग्लास ले लो तब आरती को उन दोनो ने अपने बीच मे बैठा लिया,

बैठने पर आरती की मिनी स्कर्ट और उपर को चढ़ गयी और उसकी स्किन कलर की छोटी सी पैंटी पूरी तरह से बाहर आ गयी,जिसमे की उसकी चूत भी नही छुप रही थी.फिर वो तीनो धीरे-2 ड्रिंक करने लगे,थोड़ी ही देर मे वो पेग ख़तम हो गया रमण ने बिना पूछे ही एक और पेग तैयार कर दिया,फिर नया दौर शुरू हो गया,अब तीनो का सुरूर बढ़ गया था,तभी रमण ने अपना हाथ आरती की नंगी जाँघ पर रख दिया और उसको धीरे-2 उपर को ले जाने लगा,आरती भी ये महसूस कर रही थी,पर उसको भी मज़ा आ रहा था,अब तो उसने अपने बेटे मनु की तरफ भी देखना उचित नही समझा,और वो भी मज़े लेने लगी,ये देख कर मनु भी अपनी मा से बिल्कुल सट गया,और वो भी अपनी मा के जिस्म की गर्मी को लेने लगा.
Reply
11-24-2017, 01:35 PM,
#46
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
आरती रमण के हाथ फेरने पर बहुत गरम होती जा रही थी,और उसका नशा भी बढ़ता जा रहा था,जो कि शराब के साथ-2 वासना का भी था,रमण का हाथ अब सरकते-2 आरती की पैंटी तक पहुँच गया था,वो लोग आपस मे बातें भी किए जा रहे थे,

मनु ने कहा कि मम्मी आज तो अपने कमाल कर दिया आपने तो अच्छी- हीरोइनो को मात कर दिया,आपका ये ड्रेस तो बहुत ही स्टयूनिंग है.

रमण बोला कि हन भाभी जी आप को तो इस रूप मे देख कर मज़ा ही आ गया,तब तक रमण का हाथ आरती की पैंटी के बिल्कुल उपर पहुँच गया था,और वो उसको उपर से दबाने लगा था,अब आरती से सहन नही हो रहा था,तो उसने एक ज़ोर की आह भरी,उसके ऐसा करते ही रमण ने अपना हाथ आरती की पैंटी से हटा लिया.पर जब उसने देखा कि उस सिसकी के बाद आरती ने कुछ भी विरोध नही किया तो वो अपना हाथ फिर से आरती की जाँघ पर ले गया,

मनु ये सब देख रहा था,और मज़े ले रहा था,उसको अपनी मा के साथ रमण के सेडक्षन करने पर बहुत ही मज़ा आ रहा था,और इस कारण उसका लंड बहुत टाइट हो रहा था,और वो कह रहा था कि बात इस सब से आगे बढ़े,इसलिए वो देख कर भी अपनी मा के साथ जो हो रहा था उसको अनदेखा कर रहा था.



वैसे भी अब आरती और रमण इतना आगे बढ़ चुके थे कि अब पीछे लौटना मुश्किल था.उधर अब मनु से भी अपने आप पर कंट्रोल नही हो रहा था,पर आरती अभी शराब और वासना के नशे मे भी ये नही भूली थी कि उसका बेटा मनु भी यहीं है,और इस वजह से वो बहुत ज़्यादा उत्तेजना नही दिखा पा रही थी.

ये बात रमण को समझ आ गयी ,फिर उसने मनु को इशारा किया कि वो रूम से बाहर चला जाए जिस-से कि आरती भी खुल कर वासना का खेल खेल सके,मनु रमण का इशारा समझ गया और बोला कि मुझे तो अब नींद आ रही है,अब मैं तो अपने कमरे मे जा रहा हूँ,अभी आप लोग और मस्ती करना चाहो तो आपकी मर्ज़ी है,मैं तो सोने चला,ये कह कर मनु ने किसी की भी प्रतिक्रिया का इंतेज़ार किए बिना उठा और कमरे से बाहर चला गया.

मनु के बाहर जाते ही रमण का जो हाथ अभी तक आरती की जाँघ पर ही था वो वापस उपर की ओर चल पड़ा और धीरे-2 फिर से पैंटी पर पहुँच गया,और फिर रमण ने अपना दूसरा हाथ जिसमे कि ग्लास था ,ग्लास को टेबल पर रख कर खाली किया और आरती के कंधे पर से दूसरी तरफ ले जा कर उसके मम्मों पर रख दिया,मम्मे तो आरती के वैसे ही टॉप को फाड़ कर बाहर आने को तैयार थे ही ,रमण का हाथ जैसे ही उन पर रखा गया,वो और भी तेज़ी से उपर नीचे होने लगे,तब रमण ने आरती की पैंटी को एक साइड किया और अपनी उंगली सीधे ही बिना कोई मौका गँवाए उसके स्वर्ग द्वार मे डाल दी,

जैसे ही रमण की उंगली आरती की चूत मे घुसी आरती की एकदम से तेज़ सिसकियाँ निकालने लगी,पर उसको एक बार को होश भी आया कि वो ये क्या कर रही है,फिर आरती ने नज़र उठा कर कमरे मे दौड़ाई तो कमरे मे रमण और उसके अलावा और कोई नही था,इसका मतलब सॉफ था कि मनु कमरे से बाहर जा चुका था,और अब उसके लिए मैदान साफ था,तब उसने सोचा कि जब मनु को सब कुछ पता होने पर भी अपनी मा की रमण से चुदाई पर कोई एतराज़ नही है,तो फिर वो ही क्यों अपनी भावनाओं का गला घोंटे,इसलिए उसने भी सब कुछ भुला कर इस आनंद का मज़ा लेने की सोच ली,और अपनी आँखें बंद करके रमण की उंगली को अपनी चूत मे महसूस करने लगी.

उधर मनु भी साला पक्का मादरचोद था ,वो आज अपनी मा की चुदाई की ब्लू फिल्म लाइव ही अपनी आँखों से देखना चाहता था,इसलिए ही उसने ज़्यादा ड्रिंक भी नही की थी,और अपनी बियर मे विस्की मिलाने ही नही दी थी,जिस-से कि होश मे रहे और सारी फिल्म को अपने होश हवास मे रह कर अपनी आँखों से देख सके,तो इससे वो ज़्यादा नशे मे नही था,और बाहर से कमरे मे हो रहे सारे घटना क्रम को बहुत उत्सुकता से देख रहा था.अंदर जब रमण ने अपनी उंगली आरती की फुद्दि मे डाली तो आरती की सिसकियाँ तो निकली ही साथ ही साथ मनु के मूह से भी एक आह निकली,और उसे ऐसा लगा कि अब बर्दाश्त नही होगा अगर उसने अपने लंड को पॅंट से बाहर नही निकाला तो,इसलिए उसने अपनी पॅंट खोल कर नीचे कर दी और अपना लंड जो इतना कड़क हो गया था कि उसकी नसें भी उस पर चमक रही थी और दर्द भी कर रहा था अपने अंडर वेअर से बाहर निकाला,लंड पर हाथ रखते ही उसमे से एक दर्द की लहर उठी और फिर लंड ने अपना पानी निकाल दिया,जैसे ही लंड मे से पानी निकला उसका तनाव कुछ कम हुआ और उसमे दर्द भी कम हो गया,पर लंड पूरी तरह से बता नही,क्यूंकी लंड को भी मालूम था कि पिक्चर अभी बाकी है.

अंदर हाल ये था कि आरती की आँखें तो वासना की खुमारी मे बंद हो गयी थी और रमण के एक हाथ की उंगली उसकी चूत के अंदर घुस कर उसकी चूत का अंदर से मुआयना कर रही थी,और दूसरा हाथ जो कि आरती की चुचियों पर था अब वो टॉप के उपर से ही उसके मम्मों को बुरी तरह से दबा रहा था,आरती की मदहोशी भी बढ़ती जा रही थी,और वो अब वासना की आग मे पिघल रही थी,तभी रमण ने अपने होंठ आरती के नरम नाज़ुक होठों पर रख दिए और वो उनको चूसने लगा,आरती ने भी इस बार प्रतिक्रिया मे रमण के होठों को चूसना शुरू कर दिया,अब आरती पूरी तरह से जोश मे आ चुकी थी,और उसकी चूत मे खुजली बढ़ती जा रही थी.

अब रमण ने अपने दोनो हाथों से आरती के मम्मों को दबाना शुरू कर दिया था,और आरती ने भी अपने दोनो हाथ रमण के जिस्म पर फिराने शुरू कर दिए थे,अब दोनो जने डूब कर किस कर रहे थे,और दोनो की जिभें भी आपस मे एक दूसरे के साथ खेल रही थी,फिर दोनो अलग-2 हो गये और रमण ने आरती के टॉप को खींचना शुरू कर दिया आरती ने भी उसको सहयोग किया और अपने दोनो हाथ उपर कर दिए,जिस-से कि उसका टॉप उसके शरीर से अलग हो गया और उसकी गोल-2 मोटी-2 चुचियाँ एक दम से तन कर बाहर आ गयी ,उस समय ऐसा लग रहा था कि जैसे किसी ने उनमे हवा भर दी हो और वो 36 से 40 हो गयी हैं.
Reply
11-24-2017, 02:02 PM,
#47
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
रमण आरती के मम्मे देखते ही उन पर टूट पड़ा और उनको फिर से बुरी तरह से हॉर्न की तरह से दबाने लगा,फिर उसने आगे बढ़ कर अपने होठ उसकी चुचियों पर रख दिए और वो उनको चूसने लगा,मम्मों की चुसाइ से आरती की आँखें और गुलाबी हो गयी,और वो मदहोशी मे अपना सिर इधर उधर पटकने लगी थी,अब उससे बर्दाश्त नही हो रहा था,और वो कह रही थी कि रमण उसको बुरी तरह से रोन्द दे,और उसको मसल कर उसकी चूत को फाड़ दे,अब उसके अरमान जो उसने छुपा रखे थे वो पूरी तरह से भड़क गये थे,उसका पति घर पर नही था और बेटा उसको खुद ही चुदवाने के लिए मौका दे कर वहाँ से चला गया था,तो वो हर तरह से आज़ाद थी,अपनी मन की इच्छा को पूरा करने के लिए.

उसने रमण का सर अपनी चुचियों से हटा कर उसको नीचे की तरफ धकेला तो रमण समझ गया कि अब आरती क्या चाह रही है

रमण को जब आरती नीचे की तरफ धकेलने लगी तो रमण ने आरती के मम्मों को चूसना छोड़ दिया और नीचे हो कर अपना मूह पैंटी के उपर से ही आरती की चूत पर रख दिया,आरती की चूत की महक ने एक बार तो रमण को इतना मदहोश कर दिया कि उसके होश ही उड़ गये और वो बेहोश सा हो गया,तब आरती ने उसका सिर पकड़ कर तेज़ी से अपनी चूत पर दबाया तब वो वापस होश मे आया,फिर उसने अपने हाथ आगे कर के पहले उसकी पैंटी के कपड़े को हल्का सा साइड किया और उसकी चूत की महक को अपनी नाक से सूंघने लगा,आरती से अब सबर नही हो रहा था,और वो चाह रही थी कि रमण उसकी चूत को चूसे चाटे और खा जाए,तो जब रमण सिर्फ़ उसकी चूत की महक ही ले रहा था,तब आरती का सबर जवाब देने लगा और उसने रमण को बोला कि ये तुम क्या कर रहे हो मेरे अंदर आग लगी हुई है,और मेरी ....... आह सुलग रही है,इसका कुछ करो.

रमण बोला इसका ही तो इलाज़ करना है पर इसमे से जो महक आ रही है,वो ही मुझे इतना मदहोश कर रही है कि मेरा दिल उसको छोड़ ही नही रहा ,और मैं इसको सिर्फ़ सूँघे ही जा रहा हूँ.

आरती बोली अब इसको सूंघना छोड़ो और इसको चूसो और खा जाओ.

रमण-किसको

आरती आरे इसी को जिसको सूंघ रहे हो.

रमण -भाभी जी जब आप मेरे साथ यहाँ तक आ गयी हैं तो अब शरमाना छोड़ो और इसको-2 मत करो इसका नाम लो ये क्या है.

आरती- अर्रे साले जब तू नाम ही सुन-ना चाहता है तो सुन ,साले तो मेरी चूत को चूस ले ,और चूत को खा जा यही मेरे से सुनना चाहता है ना तू.

रमण -ये हुई ना बात अब आप जब मुझे ऐसे बोलेंगी तो मेरी क्या मज़ाल है कि मैं आप को तृप्त ना करूँ.

ये कह कर रमण ने आरती को वहीं पर सोफे पर ही लिटा दिया और फिर उसी पैंटी को उतारने लगा,आरती ने भी अपने चूतड़ उँचे करके अपनी पैंटी उतारने मे उसकी मदद की,और आरती की पैंटी जैसे-2 नीचे जा रही थी वैसे-2 आरती की सुंदर चूत रमण के सामने आती जा रही थी

जैसे ही आरती की पैंटी चूत के नीचे आई,रमण की आँखों ने झपकना बंद कर दिया,आरती की चिकनी चूत देख कर वो सब कुछ भूल गया,आरती ने आज ही अपनी चूत के बाल साफ किए थे,क्यूंकी वो खुद ही अपनी चूत कुटवाना चाहती थी,ये उसकी छुपी हुई इच्छा थी,इसलिए उसने चूत को खूब चिकना किया हुआ था,और जब इतनी चिकनी मक्खन जैसी चूत रमण के सामने आई तो वो अपने होशो हवाश खो बैठा,आज उसका इतने दिन का सपना जो पूरा होने जा रहा था,जब उसने उस चूत को खूब निहार लिया तब वो झुका और उसने सबसे पहले आरती की चूत का एक गहरा चुंबन लिया,फिर अपनी जीभ निकाली और चूत को चाटना शुरू किया,चूत पहले से ही रस से भरी हुई थी,और उसका पानी बाहर तक छलक रहा था,इसलिए जैसे ही उसकी जीभ ने चूत को छुआ,तब आरती के शरीर मे भी एक अज्जीब से मदहोशी और करेंट दौड़ गया और रमण को एकदम नमकीन स्वाद मिला ,जो उसके लिए अमृत जैसा था,फिर वो चूत को पहले उपर से ही कुत्ते की तरह से चाटने लगा,पर जब उपर स्वाद आना बंद हो गया तब उसने अपने हाथ की उंगलियों से उसकी चूत को पकड़ा और उसके छेद को खोला तब अंदर से चूत का गुलाबी छेद जो फूल और पिचक रहा था दिखने लगा,उसकी चूत मे अंदर लबा-लब पानी भरा हुआ था और वो बहुत हसीन लग रही थी,जब रमण उसको निहारने ही लगा .


आरती से सबर नही हुआ और वो बोली कि अब क्या मेरी चूत को ही निहारते रहोगे इसमे अपनी जीभ डाल दो ना अब सहन नही हो रहा,तब रमण ने दोनो तरफ से चूत के छेद को और फेलाया और अपनी पूरी की पूरी जीभ एक ही बार मे उसकी रसीली चूत मे घुसा दी,पर जैसे बाल्टी मे पानी भरा हो और उसमे कुछ डालो तो पानी बाहर छलक जाता है,ऐसे ही आरती की चूत से भी उसका रस बाहर छलक गया,तब रमण ने अपनी जीभ बाहर निकाली और पहले जो रस बाहर छलक गया था उसको चाट कर सॉफ करने लगा,जब वो सारा रस साफ हो गया तब उसने फिर से धीरे-2 अपनी जीभ आरती की चूत मे घुसनी शुरू की,पर इस बार वो बाहर से ही चपड-2 चाट-ता जा रहा था,क्यूंकी वो उस अमृत की एक भी बूँद बर्बाद नही करना चाहता था.
Reply
11-24-2017, 02:02 PM,
#48
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
जब आरती की चूत का सारा पानी निकल गया तब उसने अपनी हालत की तरफ देखा तो एक बार तो उसके होश उड़ गये कि वो कहाँ है और क्या कर रही है,ऐसे नंगी हालत मे वो किसी गैर मर्द के आगे कैसे लेटी हुई है,अब उसको अपने आप पर शरम आने लगी और वो सोफे से उठने की कोशिस करने लगी,पर रमण था कि वो अब भी उसकी चूत को चाटे ही जा रहा था,इस कारण वो उठ नही पा रही थी,तब उसने रमण का सिर पकड़ कर उसको साइड किया,अब रमण को समझ आया कि आरती का पानी निकल गया है,और उसकी मस्ती एक बार शांत हो गयी है.

पर रमण तो पुराना खिलाड़ी था उसको पता था कि अगर अभी इसको छोड़ा तो बाद मे ये चुदवाने मे फिर से नखरा करेगी,इसलिए वो आरती की चूत को अपनी जीभ से चाटे ही जा रहा था,जिस-से कि वो फिर से जोश मे आ जाए और इस बार रमण उसकी चूत मे अपना मूसल घुसा कर उसकी कुटाई कर ही दे.

आरती ने जब देखा कि रमण तो उसकी चूत पर से हट ही नही रहा तो वो रमण को बोली कि रमण ये तुम क्या कर रहे हो,हटो यहाँ से ,पर रमण ने तो जैसे कुछ सुना ही नही और वो और तेज़ी से अपनी जीभ आरती की चूत मे आगे पीछे करने लगा,अब आरती को भी फिर से मज़ा आने लगा और उसको फिर से जोश आ रहा था.

फिर आरती ने जब सारी सेचुयेशन के बारे मे दुबारा से सोचा तो उसको लगा कि अब जब वो यहाँ तक आ ही गयी है और इस हालत मे रमण के सामने पड़ी है तो अब उसको भी सब कुछ भूल कर अपनी जवानी का मज़ा ले ही लेना ,चाहिए,अब और ज़्यादा शरमाने से कुछ भी नही होगा,और फिर जब एक बार वो रमण के सामने नंगी हो ही गयी तो अब यहाँ से वापस लौटना नामुमकिन है.

ये सोच कर आरती ने भी अपने विरोध को छोड़ दिया और अब वो रमण के साथ सहयोग करने लगी,जब रमण ने देखा कि अब आरती का विरोध बंद हो गया है और वो सपोर्ट कर रही है,तो उसने भी अपना सिर उसकी चूत से उपर किया और आरती की आँखों मे झाँक कर देखा तो उसको वहाँ पर वासना ही नज़र आई,तो वो फिर उसकी चूत पर झुक गया.

आरती भी जो अब तक कुछ नशे मे ही मस्ती कर रही थी अब पूरे होश मे चूत की चुसाइ का मज़ा ले रही थी,अब उसको अपनी चूत की चुसाइ से कोई एतराज़ नही था,और अब जो उसकी सिसकियाँ थी वो पहले से ज़्यादा रोमांचित करने वाली थी,वो जब रमण के कानो मे पड़ी तो रमण समझ गया कि अब आरती ने सारी स्थितियो को कबुल कर लिया है और अब वो अपनी चूत की चुदाई मे भी उसका सहयोग करेगी

जब रमण ये समझ गया कि अब आरती पूरी तरह से सब समझ कर चुदने के लिए तैयार है तो उसने अपना मूह उसकी चूत पर से हटा लिया,पर उसका पूरा मूह आरती की चूत के रस से भीगा हुआ था,और वो रस उसके पूरे मूह पर लगा हुआ था,रमण ने अपने मूह को फिर आरती के मूह के पास किया तो आरती को उसके मूह से अपनी ही चूत की भीनी-2 खुसबू आ रही थी,तो जब रमण ने अपना मूह आरती के मूह के पास किया तो उसने भी अपना मूह आगे करके रमण के मूह को चूम लिया,फिर दोनो ने अपने होठ आपस मे मिला दिए ,जब आरती ने उसके होठों को चूसा तो उसे अपनी ही चूत के रस का नमकीन स्वाद आया,तो एक बार तो उसे अच्छा नही लगा पर जब रमण उसके होठ चूस्ता ही रहा तो उसको भी वो स्वाद अच्छा लगने लग गया और वो अपनी ही चूत के रस को चूसने लगी,फिर उसने अपने होठ रमण के होठों से अलग किया और वो रमण के सारे मूह पर लगे हुए चूतरस को अपनी जीभ से चाटने लगी,अब तो आरती को मज़ा आने लगा था,और वो रमण के सारे चेहरे को ही अपनी जीभ से चाटे जा रही थी,रमण भी समझ गया कि आरती को अपनी चूतरस का स्वाद पसंद आ गया है तो उसने आरती की पैंटी जो कि साइड मे पड़ी हुई थी,और आरती के चूतरस से बुरी तरह से भीगी हुई थी,उसको उठा कर चूत वाले हिस्से को आरती के मूह पर लगा दिया,आरती को पहले तो समझ नही आया कि ये क्या है,पर फिर जब उसको समझ आया तो उसने अपनी जीभ निकाली और उस गीली कच्छि पर लगा दी ,कच्छि का कुछ हिसासा आरती की नाक के पास भी था तो कच्छि की खुसबू आरती की नाक मे भी जा रही थी,जो आरती को दुबारा मदहोश करती जा रही थी,और वो फिर से वासना के नशे मे आपने होश खोने लगी थी.

पर रमण जानता था कि ये नशा जो है मदहोशी का है और इस नशे मे जो चुदाई होगी उस चुदाई का मज़ा बड़ा ही जबरदस्त होगा,इसलिए वो चाहता था कि अब आरती पूरी तरह से उसके रंग मे रंग जाए,इसलिए ही उसने आरती को उसकी ही कच्छि चटानी शुरू की थी,अब आरती अपनी कच्छि को आगे से पूरी तरह से मूह मे ले कर चूस रही थी,और उसको उसमे बहुत मज़ा आ रहा था.

इधर बाहर मनु अब अंदर का नज़ारा देख कर दुबारा होश मे और जोश मे आ रहा था,अब उसका लंड अंदर अपनी मा की हरकतें देख कर दुबारा तनाव मे आ गया था.अब मनु फिर से अपने पैरो पे खड़ा हो गया था,और फिर से अंदर के नंगे नज़ारे को देख रहा था,पेर अब वो सिर्फ़ कमेरे से फोटो खींचने पे ही ज़ोर दे रहा था,आज तो उसकी लॉटरी ही लग गयी थी,कि उसको अपनी ही माँ की इतनी सारी नंगी फोटो खींचने का मौका मिल रहा था 

मनु का लंड अब फिर से तनाव मे आ गया था,और अब वो फिर से फूंकारने लगा था.

अंदर अब रमण और आरती दोनो बहुत एक्शिटेड हो गये थे,और रमण जानता था कि अब अगर आरती की बुर मे लंड नही डाला तो वो एक बार फिर से झाड़ सकती है,और उपर से उसका खुद का लंड अब उसको तंग कर रहा था,और वो अब किसी बिल मे घुसना चाह रहा था,इसलिए अब रमण ने आरती के मोटे-2 मम्मों को भी हॉर्न की तरह से दबाना शुरू कर दिया था.
Reply
11-24-2017, 02:02 PM,
#49
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
फिर रमण ने आरती के पूरे शरीर पे चुंबनो की बौछार कर दी,तब तक आरती भी बहुत गरम हो गयी थी और अब वो गर्मी उसकी बर्दाश्त से बाहर हो रही थी,उसकी चूत मे इस टाइम खलबली मची हुई थी,और इसको सिर्फ़ रमण का लंड ही शांत कर सकता था,इसलिए अब उसने अपना हाथ नीचे ले जा कर अंडरवेर के उपर ही रमण के लंड पर रख दिया,आरती का हाथ जैसे ही रमण के लंड के उपर टच हुआ,एकदम से रमण के लंड ने फूँकार सी मारी,और उसमे बहुत कडपन आ गया,तब रमण ने भी अपना एक हाथ नीचे ले जा कर अपनी अंडरवेर को थोड़ा सा नीचे किया और अपने तने हुए लंड को उसके बंधन से आज़ाद कर दिया,और आरती के हाथ को अपने लंड पे ले जा कर रख दिया,आरती को ऐसा लगा कि जैसे कोई बहुत गरम चीज़ उसके हाथ मे आ गयी है,पर उसने फिर भी लंड को नही छोड़ा,और उधर रमण के लंड को जैसे ही आरती के मुलायम हाथों का स्पर्श मिला वो और ज़्यादा भड़क उठा.

अब आरती से बिल्कुल बर्दाश्त नही हो रहा था,तो उसने रमण से कहा कि रमण अब कुछ करो मेरी चूत मे आग जैसी लग रही है,इसको कैसे भी करके शांत करो,रमण बोला भाभी जी ये तो अब मेरे साँप के आपके बिल मे जाने से ही शांत होगी.

आरती -तुम कुछ भी करो पर अब मुझ से मेरी चूत की खुजली सही नही जा रही,इसको ख़तम कर दो.

रमण-फिर तो आपको मेरा ये मूसल अपनी चूत मे लेना होगा,और वो यहाँ सोफे पर मुश्किल है.

आरती-तो चलो फिर बेडरूम मे चलते हैं.

रमण-ठीक है,और उसने पहले अपनी पॅंट को अपने से अलग किया ,और अपना अंडरवेर ठीक किया ,फिर आगे बढ़ कर आरती को अपनी बाहों मे उठा लिया,आरती ने सिर्फ़ स्कर्ट डाली हुई थी,बाकी के कपड़े वहीं पर बिखरे पड़े थे.

रमण-अब कहाँ को चलें,आरती ने उसको अपने बेडरूम की तरफ चलने का इशारा किया,तो वो उधर ही चल दिया.

इधर बाहर से मनु ये सब देख रहा था,और सुन भी रहा था कि अब उसकी मा को बहुत गर्मी चढ़ गयी है और अब वो अपनी चूत मरवाना चाहती है,वो ये सोच कर बहुत एक्शिटेड हो गया कि अब माँ की लाइव चुदाई देखने को मिलेगी,ये सोच कर तो उसके हाथ पैर काँपने लगे की अब आगे तो बहुत ही शानदार सीन आने वाला है,उसने जब देखा कि रमण ने आरती को अपनी बाहों मे उठा लिया है और वो उसके बेडरूम की तरफ जा रहा है,तो उसने अपनी अंडरवेर बिल्कुल ही निकाल दी और वो नीचे से बिल्कुल नंगा हो गया.

तब तक रमण आरती को ले कर उसके बेडरूम मे जा चुका था.

इसलिए मनु जल्दी से ड्रॉयिंग रूम मे आया और वहाँ से सबसे पहले आपनी मा की कच्छि उठाई,फिर उसने उसको अपनी नाक पर लगाया,और सूंघने लगा,उसकी खुसबू तो उसको भी मदहोश कर रही थी,फिर उसने अपनी जीभ बाहर निकाली और जहाँ से उसकी माँ चूस रही थी वहाँ पर ही अपनी जीभ लगाई,जैसे ही जीभ वहाँ टच हुई एक करेंट सा उसके शरीर मे दौड़ गया,वहाँ से उसको एक नमकीन स्वाद चूसने को मिला,अब तो मनु का लंड फिर से उस-से बग़ावत करने लगा था,और अब वो फिर से अककड़ गया था.
Reply

11-24-2017, 02:02 PM,
#50
RE: Maa ki chudai मॉं की मस्ती
मनु समझ गया कि अब अगर उसने फिर से अपने लंड को नही झाड़ा तो वो नही मानेगा तो उसने अपनी मा की कच्छि को चूस्ते हुए मूठ मारनी शुरू कर दी,तभी उसकी नज़र अपनी मा के टॉप पर गयी तो उसने झट से उसको उठा लिया और फिर उसको अपने लंड पर रख लिया,उसको एक बार ऐसा महसूस हुआ कि जैसे उसकी मा ही उसके साथ हो,ये सोच कर उसने टॉप को ही अपने लंड पर आगे-पीछे करना शुरू कर दिया,अब हालत ये थे कि आरती की कच्छि उसके मूह मे थी और टॉप उसके लंड पर था,और वो सिर्फ़ और सिर्फ़ अपनी मा के नंगे जिस्म की कल्पना कर रहा था,कि जैसे उसका लंड ही उसकी मा की चूत मे हो और तभी वो झाड़ गया,इस बार उसके लंड ने सारा पानी अपनी माँ के टॉप मे ही छोड़ दिया था.

जब मनु का लंड झाड़ गया तब उसने अपने लंड को अपनी मा की कच्छि से ही साफ कर लिया,फिर उसको होश आया कि वो तो यहाँ खड़ा है और इतने मे तो उसकी माँ अंदर चुद ना गयी हो,वो जल्दी से अपनी माँ के रूम की तरफ जाने लगा ,तभी उसकी नज़र वहीं पर रखे हॅंडकॅम पर गयी,जो वो पहले ले कर आया था,पर अभी काम मे नही आया था,अब उसने सोचा कि मा की फोटुस तो कमेरे से ले ही ली हैं ,अब तो मा की चुदाई की ब्लू फिल्म इस-से बना ली जाए,ये सोच कर उसने हॅंडकॅम उठा लिया और अपनी माँ के रूम की तरफ चल दिया.

अंदर रमण ने आरती को अपनी गोदी से उतार कर बिस्तेर पर लिटा दिया था,और अब वो अपने कपड़े उतार रहा था,पर उसने आरती की मिनी और सेंडल नही उतारे,जब वो बिल्कुल नंगा हो गया तो वो आरती के पास आ गया और फिर से उसके मम्मे चूसने लगा,तब आरती ने कहा कि अब इनको बाद मे चूस लेना ये कहीं भागे नही जा रहे ,पर एक बार पहले आपना ये मोटा लंड मेरी चूत मे बाड़ दो,जिस-से कि मेरी चूत मे जो आग लग रही है वो कुछ ठंडी पड़ जाए.

रमण ने कहा कि वो तो ठीक है,अगर उसकी ये ही इच्छा है तो पहले ये ही सही ये कह कर उसने अपने मोटे लंड को आरती की चिकनी चूत पर रखा और एक करारा धक्का मारा,आरती की चूत पहले ही चटाई और चुसाइ से इतनी गीली हो रखी थी कि जैसे ही रमण ने शॉट मारा उसका पूरे का पूरा लंड एक बार मे ही आरती की चूत मे घुस गया,और जैसे ही वो जा कर उसकी चूत के अंदर लास्ट मे टकराया तो एकदम से आरती के मूह से चीख सी निकल गयी.

तभी मनु भी बाहर तक आ गया था ,तो उसने जैसे ही अपनी माँ की चीख सुनी वो एकदम से अपने आप को रोक नही पाया और कमरे मे घुस गया,पर जब उसने देखा कि वो चीख तो उसकी माँ ने मज़े के कारण मारी थी,तो वो वहीं रुक गया,उसने देखा कि बिस्तेर पर उसकी माँ टाँगें चौड़ी करके आँखें बंद करके लेटी हुई है और रमण उसके उपर चढ़ कर उसकी जम कर चुदाई कर रहा है.

तभी रमण की नज़र भी मनु पर पड़ी और उसने देखा कि मनु नीचे से पूरी तरह से नंगा है और अब उसका लंड अपनी माँ की चुदाई देख कर फिर से खड़ा हो रहा है,और उसके दूसरे हाथ मे हॅंडकॅम है तो उसने मनु को आँख मारी और इशारा किया कि अगर वो चाहे तो अपनी माँ की फिल्म बना ले.

मनु रमण का इशारा समझ गया,पर उसको पता था कि अगर वो ऐसे ही कमरे मे खुले आम अपनी मा की चुदाई को शूट करेगा तो,जब उसकी माँ की नज़र उस पर पड़ेगी तो शायद वो इस-से आगे ना बढ़े और फिर वो इस सब से महरूम हो जाए ,इसलिए उसको कहीं पर भी थोड़ा सा छुप कर ही फिल्म बनाना सही रहेगा,तो वो थोड़ा सा पीछे हो कर पर्दे के पीछे छुप गया और वहाँ से ही शूट करने लगा.

इधर आरती ने उस चीख के बाद से तेज़ी से सिसकना शुरू कर दिया था,और रमण के मूसल लंड को अपनी चूत मे अड्जस्ट कर लिया था और अब आँखें बंद करके उसके हर धक्के का मज़ा ले रही थी,और धक्कों का जवाब अपनी कमर उछाल-2 कर धक्कों से ही दे रही थी.साथ ही साथ अब मज़े के कारण उसकी आहें भी तेज़ हो गयी थी और वो बड-बड़ाने भी लगी थी,जैसे कि आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह मेरे सनम आज्ज्जज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज्ज तुमने मुझे खुस कर दियाआआआआआ अब तुम मेरी चूत को चाहे फाड़ डालो या इसका भोसड़ा बना दो,अब तुमको रोज़ ही ऐसे ही मुझे ठोकना होगा,आज तो मेरी चूत की आग को ठंडा कर दो. हेययीयीयैआइयैआइयैआइयैआइयैआइयैआइयैआइयैआइयैआइयैयीयीयियी रजाआआ

रमण बोला हां मेरी जानेमन अब मैं रोज़ ही तुझे ऐसे ही ठोकुन्गा ,अब तो मुझे भी रोज़ ही तेरी चूत मारने को चाहेयेगि,नही तो मेरे लंड की प्यास ही नही बुझेगी,मेरी रानी.

अब दोनो जनो ने अपने धक्को की रफ़्तार को बढ़ा दिया था,अब दोनो ही झड़ने के करीब आ गये थे,वैसे तो रमण इतनी जल्दी शायद नही झाड़ता पर क्यूंकी अभी तक उसका पानी एक बार भी नही निकला था और उसकी उतेज़ना इतनी बढ़ी हुई थी कि जैसे ही उसका लंड पहली बार आरती की चूत मे घुसा था वो तो तभी झड़ने के लिए तैयार था,वो तो उसने आपने आप पर कंट्रोल करके अभी तक अपने लंड को झड़ने से रोका हुआ था,पर जब आरती भी झड़ने वाली थी तो उसने सोचा कि अब उसको भी एक बार इसके साथ ही झाड़ जाना चाहिए.

ये सोच कर रमण ने अपने धक्को की स्पीड तेज़ कर दी,तभी आरती ने रमण से कहा रमण अब मेरा निकलने वाला है,रमण बोला तो ठीक है जानेमन मैं भी तुम्हारे साथ-2 आ रहा हूँ,और ये कह कर आरती ने एक तेज़ सिसकी मारी और अपनी दोनो टाँगें जो अब तक खुली थी उनसे रमण को बुरी तरह से जाकड़ लिया,तभी रमण ने भी उसकी चूत मे अपना पानी गिरा दिया.दोनो जने साथ-2 झाड़ रहे थे और उनके रस आपस मे मिल कर आरती की चूत मे इकट्ठा हो रहे थे.
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 194 2,100,779 Yesterday, 03:44 AM
Last Post: aamirhydkhan
  Sex Hindi Kahani राबिया का बेहेनचोद भाई sexstories 18 188,242 01-18-2023, 03:58 PM
Last Post: lovelylover
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 47 292,979 01-10-2023, 12:22 AM
Last Post: Jabisingh
  Chudai Story हरामी पड़ोसी sexstories 31 417,097 12-16-2022, 04:05 PM
Last Post: Naheed Tabasum
Lightbulb Behan Sex Kahani मेरी प्यारी दीदी sexstories 47 1,195,077 12-09-2022, 03:28 PM
Last Post: Gandkadeewana
Lightbulb Bhai Bahan Sex Kahani भाई-बहन वाली कहानियाँ desiaks 119 1,209,346 11-17-2022, 02:48 PM
Last Post: Trk009
Lightbulb Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड desiaks 110 2,417,597 11-15-2022, 03:27 AM
Last Post: shareefcouple
  बहू नगीना और ससुर कमीना sexstories 143 1,717,365 11-14-2022, 10:30 PM
Last Post: dan3278
Sad Hindi Porn Kahani अदला बदली sexstories 63 902,792 10-03-2022, 05:08 AM
Last Post: Gandkadeewana
Star non veg story नाना ने बनाया दिवाना sexstories 109 1,137,770 09-11-2022, 03:34 AM
Last Post: Gandkadeewana



Users browsing this thread: 25 Guest(s)