Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath
01-06-2022, 02:40 PM,
#11
RE: Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath
मेरे   निकाह  मेरी  कजिन  के  साथ 5 Part 1


छोटी बीवी जूनि





मेरा नाम सलमान है और हम लखनऊ के नवाब खानदान से ताल्लुक रखते है, हमारे यहाँ शादी केवल खानदान में ही होती है। हमारे खानदान में सिर्फ़ दो लड़के है में और मेरी मौसी का लड़का रिज़वान, जिसका निकाह मेरी बहन रुकसाना से हुआ है। मेरे दो और बहनें है सलमा और फ़ातिमा और उनका निकाह भी रिज़वान से ही होगा। मेरी मौसी के दो लड़कियाँ है ज़ीनत और आरसी, मेरे चाचा के दो लडकियाँ है रुक्सर और ज़ूनी, ज़ीनत 26 साल की, आरसी 18 साल की, रुक्सर 20 साल की और ज़ूनी 19 साल की है। फिर तय हुआ की मेरा निकाह ज़ीनत और आरसी से एक दिन और रूक्सर और ज़ूनी से दूसरे दिन हो जाए और रिज़वान का निकाह सलमा और फातिमा से हो जाए, ताकि खानदान घर में ही बढ़े और सब हवेली में ही रह जाए। फिर मैंने मेरी पहली सुहागरात ज़ीनत के साथ चुनी और हर एक महीने के बाद सुहागरात मनाने का फ़ैसला लिया और क्योंकि उम्र में सब उससे छोटी थी इसलिए घरवालों को भी कोई ऐतराज़ नहीं हुआ।

जब अब्बू छड़ी लहराते हुए सांतने लगे बर्खुदारो तुम्हे कितना समझाया था आराम से करना l अपनी तहजीब का ख्याल रखना, हम दोनों वहाँ से अपनी गांड बचाकर भाग गए । भागते हुए मैं अपने कमरे में जा रहा था तो वहाँ हमे रास्ते में मुझे आरसी मिल गयी और आरसी ने मेरे पास आकर कहा कि पूरी हवेली को रातभर सोने नहीं दिया, ऐसा क्या कर डाला जीनत के साथ?

तो मैंने कहा कि अगले महीने तेरी भी यही हालत करूँगा साली, तो आरसी ने कहा कि तो कर लेना, आओ तो सही, में चैलेंज देती हूँ तुम हार जाओगे, जीनत तो सीधी थी मीठी, नमकीन और कमसिन का मज़ा तो में ही दूँगी ।


अब तक मैंने आपको अपनी बड़ी बीवी जीनत आपा जो की मेरी की चुदाई की दास्ताँ सुनाई और फिर मेरी मौसी का लड़का रिज़वान, जिसका निकाह मेरी सगी बहन रुकसाना और सलमा की चुदाई की दस्ताने सुनाई । अब आप को जूनि मेरी सबसे छोटी कजिन की कहानी सुनाता हु । जूनि के साथ मेरा निकाह तो हो गया था लेकिन उम्र में सबसे छोटी होने के कारन उसकी सुहागरात मेरे साथ दो साल बाद होनी थी और उसकी बड़ी बहनो रुक्सार और आरसी की सुहागरात पहले होनी थी ।


तो तय तो ये हुआ था कि ज़ीनत के बाद आरसी की सुहागरात होगी लेकिन खुदा के खेल न्यारे हैं । और उसी पहले चुदाई हो गयी मेरी सबसे छोटी बीवी जूनि की ।

हमारे रात भर चलने वाले चुदाई कम्पटीशन से परेशान हो कर घरवालों ने रामपुर के पास हमारी बहुत बड़ी खेती है और एक हवेली भी है और इस बार खेती के काम के सिलसिले में मेरा वहाँ 15 दिन रहने का प्रोग्राम बना डाला ताकि मेरे हनीमून भी हो जाए और घरवाले रात भर आराम से सो सकें इसलिए ज़ीनत के साथ मेरा प्रोग्राम बन गया, लेकिन ज़ीनत ने कहा की अकेले उसका मन नहीं लगेगा इस लिए जूनि भी जाएगी और इस तरह हम हवेली के लिए निकल पड़े ।

क्योंकि दोनों मेरी बीविया थी इसलिए मैंने सबसे बड़े कमरे में सोने का प्रोग्रम बनाया जिसमे की बहुत बड़ा पलंग या आप समझ लीजिये जिसमे दो पलंग लगे हुए थे, इसका एक और कारन था की जूनि को अलग सोने में डर लग रहा था और अभी वह 18 साल की उम्र को क्रॉस ही की थी लेकिन वह लगती बिलकुल 14 साल की थी ।

मैंने जीनत से बोला क्या बेगम तुम कबाब में हडि  साथ ले आयी हो और अब उसे साथ में भी सुलाने जा रही ही । अब कैसे होगा । तो जीनत आप बोली । आप तो दिन भर खेती का काम देखोगे और मैं बोर हूँगी इसीलिए इसे साथ ले आयी हूँ और फिर वह अकेली सोने में डरती है । तीसरी इससे कैसी शर्म एक तो मेरी बहन है ,  दूसरा आपकी बीवी है और इससे कैसे शर्म । कुछ देख लेगी तो सीख जायेगी उसमे आपका ही फायदा है? मुझे बात जचि.  पर फैसला किया उसके सोने के बाद ही हम कुछ करेंगे ।

रामपुर की हवेली में पहली रात मुझे लगा वह गहरी नींद सोयी हुई थी और उसके सोने के बाद मैंने ज़ीनत की 3 बार चुदाई की। । लेकिन पूरे रूम में हमारी चुदाई का नंगा नाच जूनि लेटे हुए चुपचाप देख रही थी उसने सुबह मुझ से पुछा?

उसने कहा भाई जान आपा की पेशाब वाली जगह आपने क्या घुसा दिया था और आपा और जोरसे और जोरसे क्यों बोल रही थी । मैंने बोलै तुम चुप चाप सो जाय करो नहीं तो अकेले सोना पड़ेगा और आपा की बात अपनी आपा से पूछ लेना । मैंने ज़ीनत आपा से बाद में जूनि के बारे में पूछा इसको पीरियड्स चालू हो गए क्या? इसको कुछ पता है के नहीं सेक्स के बारे में, तो उन्होंने बताया अभी वह 18 साल की उम्र को क्रॉस ही की  है लेकिन वह लगती बिलकुल 14 साल की है और पीरियड्स 6 महीने पहले स्टार्ट हो गए है पर सलमान अभी बिलकुल नाजुक बच्ची है इसको अभी मत  छूना , मर जाएगी बेचारी ।

बाद में जब में खेती देखने चला गया तो जून ने जीनत से वही सवाल किया - आपा रात   भाई जान ने आपकी पेशाब वाली जगह क्या डाला था और आप जोर से और जोर से क्यों चिल्ला रही थी?

ज़ीनत आपा ने जूनी से पूछा-जूनि, तुझे सेक्स और सुहागरात के बारे में कुछ नालेज है कि उस रात शौहर और उसकी बीबी के बीच क्या होता है? फिर न कहना कि मुझे इस बारे में किसी ने कुछ बताया ही नहीं था।

जूनी थोड़ी अनजान तो थी ही उसे पढाई भी बहुत पहले छोड़ दी थी और मुश्किल से 6-7. क्लास पास की थी और उसने जीनत आपा से शरमाकर पूछा-क्या होता है आपा, उस रात को? बताइये, मुझे कुछ नहीं मालूम।

ज़ीनत आपा बोली-पगली, इस रात को शौहर और उसकी बीबी का  जिस्मी मिलन होता है।

'कैसे आपा, जरा खुल के बताओ न, कैसा मिलन?'

'अरी पगली, शौहर और उसकी बीबी एक दूसरे को प्यार करते हैं। शौहर और उसकी बीबी के ओठों का चुम्मन लेता है, उसके ब्लाउज के हुक खोलता है और फिर उसकी ब्रा को उतार कर उसकी चूचियों का चुम्मन लेता है, उन्हें दबाता है। धीरे-धीरे शौहर अपना हाथ बीवी के सारे शरीर पर फेरने लगता है, वह उसकी छातियों से धीरे-धीरे अपना हाथ उसकी जाँघों पर ले जाता है और फिर उसकी दोनों जाँघों के बीच की जगह को अपनी ऊँगली डाल कर उसका स्पर्श करता है।'

'फिर क्या होता है आपा, बताइये न, आप कहते-कहते रुक क्यों गईं?'

'कुछ नहीं, मैं भी तुझे कैसी बातें बताने लगी। ये सारी बातें तो तुझे खुद भी आनी चाहिए, अब तू बच्ची तो नहीं रही।' ज़ीनत आपा ने नकली झुंझलाहट का प्रदर्शन किया।

'आपा, बताओ प्लीज, फिर शौहर क्या करता हैअपनी बीवी के साथ?'

'उसे पूरी तरह से नंगी कर देता है और फिर खुद भी नंगा हो जाता है। दोनों काफी देर तक एक दूसरे के अंगों को छूते हैं, उन्हें सहलाते हैं और अंत में शौहर अपनी बेगम की योनि में अपना लिंग डालने की कोशिश करता है। जब उसका लिंग आधे के करीब योनि के अन्दर घुस जाता है तो बीवी की योनि की झिल्ली फट जाती है और उसे दर्द होता है, योनि से कुछ खून भी निकलता है। कोई-कोई बीवी तो दर्द के मारे चीखने तक लगती है। परन्तु शौहर अपनी मस्ती में भर कर अपना शेष लिंग भी बीवी की योनि में घुसेड़ ही देता है।'

ओह तो आपा इसीलिए आप और सलमा बाजी सुहागरात वाली रात चिल्ला रही थी 'फिर क्या होता है आपा?'

'आपा, बताओ प्लीज, फिर शौहर क्या करता है बीवी के साथ?'

'होता क्या, थोड़ी-बहुत देर में बीवी को भी पति का लिंग डालना अच्छा लगता है और वह भी अपने कूल्हे मटका-मटका कर शौहर का साथ देती है। इस क्रिया को सम्भोग-क्रिया या मैथुन क्रिया कहते हैं।'


कहानी जारी रहेगी

Aamir..
Reply

01-12-2022, 03:46 PM,
#12
RE: Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath
मेरे निकाह मेरी कजिन के साथ 


भाग 08 

 

 छोटी बीवी जूनि



अब   जूनी  के बारे  में बताता हूँ उसका  रंग  गोरा , कद  5-5″,फीचर्स  लम्बा  चेहरा  तब्बू  जैसा  आवाज़  वैसी  ही  तब्बू  जैसी  भोली   पर बजन  39 kg, बूब्स  34″, कमर  20″ और  चुतर  34″ के हैं  , मैंने  अभीतक  उसको चोदने   की  नज़र  से  नहीं  देखा  था  क्योंकि  मुझे  वह  बहुत  छोटी  लगती  थी ।

उस रात  के लाइव चुदाई देखने के बाद से मुझे देख  वो  उसका लिप्स बाइट करना,नज़रे मटकाना. उसके बाद उसकी रसीली  मटकती हुई गान्ड  जिसे देख लगता  था कि जैसे 2 लीटर पानी से भरे बलून्स हो . छूकर ही  स्खलन  हो जाए. आख़िर खाते पीते घर की हैं.  उसे भी पता था वो मेरी बीबी है ऐसे में उसका मेरी ओर खिंचाव प्राकृतिक था। वह हमेशा मुझे आकर्षित करने लगी रहती थी  और मेरे आस पास मंडराने लगी ।  

जूनि ने  एक  दिन   एक टी-शर्ट और स्कर्ट पहना था जिसमे उसके मस्त और मांसल टांगे दिखाई दे रही थी.   यार क्या फिगर था यार मस्त माल थी . उसका जिस्म बहोत ही गरम हैं. बेहद खूबसूरत,गोरी चिट्टि, बेबी डॉल   रेड टाइट टी-शर्ट में उसके  स्तन अभी बड़े होने आने शुरू हो गए  थे  साफ़ दिख रहे थे  , पर उसके निपल्स बड़े सेन्सिटिव हैं उसकी बूब्स एक दम नोकिले और टाइट लग रहे थे और उसकी गाँड मस्त थी . मैं काफ़ी देर तक उसे देखता रहा   उसके मुममे बाहर की तरफ उभरे हुए थे, होंठ मस्त और उसकी गाँड फूली हुई. फिर मुझे ज़ीनत आप की बात याद आयी.   अभी बच्ची है . तो मैने उस पर ज्यादा ध्यान नहीं दिया।

एक  दिन जब मैं खेतो से लौटा तो   ज़ीनत आपा रसोई  में मेरे लिए चाय  बना रही थी,  तो जूनि  तेजी से मेरी पास पानी लेकर आ रही थी  फर्श गीला था और अचानक उसका   पांव  फिसल गया और  वो धड़ाम से गिर गई। गिरने की आवाज़ और चीख सुनकर मैं  भागा भागा उसके पास गया । जूनि  के  दाहिने पैर में मोच आ गई थी और उसने  अपना दाहिना घुटना पकड़ा हुआ था। 

मैंने उसका  पैर सीधा किया और घुटने की तरफ देख कर पूछा,"क्या हुआ?"

जूनि बोली मेरा पाँव फिसल गया और मेरा पांव फिसलते वक्त मुड़ गया था और मैं घुटने के बल गिरी थी। मैंने  बिना हिचकिचाहट के उसकी स्कर्ट  को घुटने तक ऊपर किया और जूनि का हाथ घुटने से हटाने के बाद उसका मुआयना करने लगा। मैंने  जिस तरह   जूनि की टांगें घुटने तक नंगी की  उससे जूनि  को बहुत शर्म आई तभी उसने ज़ीनत आपा  को भी आते हुए देखा  और उसने  झट से अपना घाघरा नीचे खींचने की कोशिश की।

ऐसा करने में  जूनि के  मोच खाए पैर में ज़ोर का दर्द हुआ और वो  नीचे लेट गई। इतने में  ज़ीनत आपा  भी वहाँ आ गयी और बोली  "ओह... जूनि ... क्या हुआ?"

"यहाँ पानी किसने गिराया था? मैं फिसल गई..." जूनि  ने  करहाते हुए कहा।

"सॉरी  जूनि ... पानी की बोतल भरते वक्त गिर गया होगा..."  ज़ीनत  ने  कहा तुम भी थोड़ा ध्यान से चला  करो  अब  बच्ची नहीं रही हो ।

अब ज़ीनत आपा  की ये बात सुन कर मेरे कान खड़े हो गए। 

अब मैंने  अपने हाथ  जूनि   की गर्दन और घुटनों के नीचे डाल कर जूनी  को  उठा लिया और खड़ा हो गया।  जूनी ने अपनी दाहिनी टांग सीधी रखी और दोनों हाथ मेरी  गरदन में डाल दिए। उसने मुझे अपने बदन के साथ सटा लिया और मैं  छोटे छोटे कदमों से मेरे कमरे की ओर चलने लगा। मुझे उसके नरम जिस्म का स्पर्श  बहुत  अच्छा लग रहा था ।

मुझे  कोई जल्दी नहीं थी...  मैंने देखा जूनी ने हल्का मेकअप किया हुआ था और ओंठो पर गुलाबी लिपस्टिक भी लगा रही थी अपर दर्द से कराह रही थी .  मुझे उसकी  मजबूर हालत में मौका दिया था  जिससे  वो मेरे बिलकुल करीब हो गयी थी ।  जूनी को भी मेरा स्पर्श अच्छा  लग रहा था . उसकी पकड़ इस तरह थी कि जीनी का  एक स्तन मेरे  सीने में गड़ रहा था। मेरी  नज़रें  जूनी की  आँखों में घूर रही थीं... दर्द के मारे  जूनी ने अपनी आँखें बंद कर लीं थी ।

मैंने उसे  ठीक से उठाने के बहाने एक बार अपने पास चिपका लिया और फिर अपना एक हाथ जूनी की  पीठ पर और एक उसके  चूतड़ों  पर लगा दिया।   मुझे उसका स्पर्श अच्छा लग रहा था। पहली बारमैंने जूनी को  इस तरह उठाया था। मेरे बदन में एक सुरसुराहट सी होने लगी थी।

कमरे में पहुँच कर मैं ने धीरे से झुक कर जूनी को  बिस्तर पर  इस तरह से डालने की कोशिश की जिससे मैंने उसको  अपने बदन से सटाते हुए नीचे सरकाना शुरू किया जिससे मेरी पीठ उसके पेट से रगड़ती हुई नीचे जाने लगी और एक क्षण भर के लिए मेरे  उठे हुए लिंग का आभास कराते हुए जूनी की  पीठ बिस्तर पर लग गई।

अब वो  बिस्तर पर थी और मेरे दोनों हाथ उसके  नीचे। थे  मैंने  धीरे धीरे अपने हाथ सरकाते हुए बाहर खींचे... उसकी आँखों में एक नशा सा था और उसकी सांस मानो रुक रुक कर आ रही थी। वह मुझे एक अजीब सी नज़र से देख रही थी।मेरा  ध्यान मेरे स्तनों , पेट और जाँघों पर केंद्रित था।
वो भी  चोरी चोरी नज़रों से  हलके हलके कराहते हुए मुझे  देख रही थी। पर मैं उसे बेशर्मी से घूर रहा था आखिर मेरी बीबी थी  तो उससे मुझे क्या शर्म थी।

मैंने  सीधे होकर एक बार अपने हाथों को ऊपर और पीछे की ओर खींच कर अंगड़ाई सी ली जिससे मेरा  पेट और जांघें आगे को जूनी की  तरफ झुक गईं। अब मेरे  तने हुए लंड  का उभार मेरी पैन्ट में साफ़ दिखाई दे रहा था। कुछ देर इस अवस्था में रुक कर मैंने  हम्म्म्म की आवाज़ निकालते हुए अपने आप को सीधा किया। 

फिर मैंने जीनत आपा को थोड़ा गरम पानी और तौलिया लाने को कहा और बोलै जूनी  जब तक जीनत आपा ये लेकर आती  है   तब तक मैं तुम्हारी   चोट के बारे में कुछ करता हूँ। ठीक है?"

मैंने  बिना हिचकिचाहट के  एक बार फिर उसकी स्कर्ट  को घुटने तक ऊपर किया और जूनि के घुटने का मुआयना करने लगा।   जूनि  को बहुत शर्म आई तभी उसने ज़ीनत आपा  को  गरम पानी और तौलिया लाते हुए देखा  और उसने  झट से अपना घाघरा नीचे खींचने की कोशिश की।

  तो मैंने कहा जूनी अब इसे छोड़ो और मुझे देखने दो , मुझसे क्यों  शर्मा  रही हो मैं तुम्हारा शौहर हूँ ।

 सलमान तुम  जूनी को देखो  मैं तुम्हारे लिए चाय लाती हूँ "कुछ  चाहिए हो तो मुझे बुला लेना..." कहती हुई  जीनत आपा  ने मुझे पानी का गिलास पीने के लिए दिया और  चाय  के लिए  रसोई  में चली गई।

मैंने एक कुर्सी खींच कर बिस्तर के पास की और उस पर गरम पानी और तौलिया रख दिया... फिर खुद जूनी के  पैरों की तरफ आकर बैठ गया और जूनी  का  दाहिना पांव अपनी गोद में रख लिया। फिर   तौलिए को गरम पानी में भिगो कर उसी में निचोड़ा और गरम तौलिए से  जूनी के पांव को सेंक देने लगा। गरम सेंक से  जूनी को  आराम आने लगा। थोड़ा सेंकने के बाद मैंने उसके  पांव को हल्के हल्के गोल-गोल घुमाना शुरू किया। जूनी का  दर्द पहले से कम था पर फिर भी था। जूनी के  "ऊऊंह आह" करने पर मैंने पांव फिर से  अपनी जांघ पर रख दिया और गरम तौलिए से दुबारा सेंकने लगा। ठोड़ी देर में पानी ठंडा हो गया तो मैंने ज़ीनत आप को बुला कर और गरम पानी लाने को कहा।

जब तक वह लाती मैंने उसका  दाहिना  पैर और पिंडली को सहलाना और दबाना शुरू कर दिया। मैं प्यार से हाथ चला रहा था... सो  जूनी को भी मज़ा आ रहा था।

मैंने पुछा कैसा लग रहा है  तो वो बोली अब ठीक लग रहा है।  तो  मैंने कहा अब और देखने दो कहीं और चोट तो नहीं है?  और ये कह कर  मैने धीरे धीरे उसके जिस्म को टच करना स्टार्ट किया। अपनी उंगलियो से उसके पेट के उपरी हिस्सो को छूने लगा मज़ाक करते हुए. फिर मैने उसे अपनी बाहो मे लिया और उसके गालो पे किस  कर दी।  वो शरमाने लगी।

जूनी बोली आपा आ जायेगी !! मैं रुक गया और  मैने उसे चूमना बंद कर दिया पर अपने बाहो मे थामे रखा. और फिर उससे बाते करने लगा. मैने उसको कहा कि वो बहोत सुंदर और सेक्सी हैं. तो शरमा गयी. बोली ये सेक्सी क्या होता हैं??

कहानी जारी रहेगी

Aamir..
Reply
01-14-2022, 10:25 AM,
#13
RE: Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath
मेरे निकाह मेरी कजिन के साथ

भाग 09

सेक्सी- छोटी बीवी जूनी





"एक मिनट !" कहकर मैं वाशरूम जा कर फ्रेश हो कर आया और पेण्ट और अंडरवियर निकाल कर लुंगी पहन ली। और जीनत के पास गया तो वो सज संवर कर पड़ोस में जाने की तयारी कर रही थी । जीनत आपा बहुत सुंदर लग रही थी। उसे देख कर मेरा लंड अकड़ने लगा और मैंने जीनत आपा को चूमाँ और पुछा आज तो कयामत ढाने का इरादा है मेरी जान का । .. तो वो बोली मेरे सरताज अभी पड़ोस में ठाकुर साहब के पोता हुआ है उनके यहाँ फंक्शन में जा रही हूँ। मैंने आपा को चूमा और उन्हें गले लगाया और बोलै मुझे जूनी को देखना है। लगता है उसे ज्यादा चोट नहीं लगी है। वो नहीं जा पाएगी। और मुझे उसके लिए रुकना चाहिए । आप लाजो के साथ चली जाओ । मैं वापिस जूनी के पास लौट आया ।.

फिर लाजो आयी और गरम पानी देकर चली गई और बोली वो जीनत आपा के साथ जा रही है।फिर मैंने जूनी के दाहिने पैर को अपनी जाँघों के बीच में बिस्तर पर टिका दिया। मेरी दाईं टांग उसकी टांगों के बीच, घुटनों से मुड़ी हुई बिस्तर पर टिकी थी और मेरी बाईं टांग बिस्तर से नीचे ओर लटक रही थी। अब मैंने तौलिए को गीला करके जूनी के दाहिने घुटने की सेंक करना शुरू किया। ऐसा करने के लिए जब मैं आगे को झुकता तो जूनी का दाहिने पांव का तलवा मेरी जाँघों के बीच मेरी तरफ खिसक जाता। एक दो बार इस तरह करने से मेरा लंड उसके तलवे को छूने लगा। उसके छूते ही जहाँ मेरे शरीर में एक डंक सा लगा मैंने देखा कि जूनी के शरीर से एक गहरी सांस छूटी और मैंने एक क्षण के लिए घुटने की मालिश रोक दी। फिर मैंने अपने कूल्हों को हिला-डुला कर अपने आप को थोड़ा आगे कर लिया। अब जब मैंने आगे झुकता उसका तलवा मेरे लंड पर अच्छी तरह ऐसे लग रहा था मानो ड्राईवर ब्रेक पेडल दबा रहा हो। उसके तलवे पर लुंगी में छुपे मेरे लिंग का उभार महसूस हो रहा था।

"एक मिनट !" कहकर मैंने अपना हाथ से अपने लिंग को व्यवस्थित किया . फिर मैं पहले की तरह आगे खिसक कर बैठ गया और जूनी के तलवे का संपर्क दोबारा अपने अर्ध-उत्तेजित लिंग से करा दिया।

जूनि चुप रहीं, फिर उसने उठने की कोशिश की, लेकिन नहीं कर सकीं, उसे कमर के पीछे दर्द महसूस हुआ। उसने दर्द के साथ कहा, "ओह्ह ... भाई जान , मुझे अपने शरीर के पिछले हिस्से में तेज दर्द महसूस हो रहा है।"

मैंने चिंताजनक लहजे में कहा, "जूनि रुको, और उठने की कोशिश मत करो, मुझे कुछ प्राथमिक चिकित्सा-उपचार करने दो।"

यह कहकर मैं भाग कर आइस ,दर्द निवारक मरहम की एक ट्यूब और एक एंटीसेप्टिक ट्यूब के साथ लौटा। जूनी दर्द में थी। लेकिन वह मुझे सराहना और आभारी आँखों में देख रही थी।

मैंने कहा, "अब, जूनी आप पेट के बल पट्ट लेट जाओ ताकि मैं आपकी पीठ को जांच कर वहां मलहम लगा सकूँ जिससे आपको स्थायी रूप आराम मिल जाएगा । "


मैंने उसकी टी शर्ट को निकलने को कहा वह बहुत घबरायी हुई थी, और संकोच महसूस कर रही थी । फिर उसने एक चादर ओढ़ ली और उसके अंदर अपनी टी शर्ट निकाल दी और उसने नीचे ब्रा नहीं पहनी हुई थी।

मैंने जूनी चेहरे का अध्ययन किया और उसकी भावना को पढ़ा, और गंभीर स्वर में कहा, "जूनी डरने, शर्म करने और संकोच करने की कोई आवश्यकता नहीं है मैं आपका शौहर हूँ और शौहर और बीबी में संकोच का कोई काम नहीं है । मैं जो करने जा रहा हूं वह एक प्राथमिक उपचार है और इन परिस्तितियों में दर्द से तत्काल राहत के लिए जरूरी है।

मेरी शांत आवाज़ सुनने के बाद, जूनि पलटी और पेट के बल लेट गई, अपनी पीठ मेरे सामने नग्न थी ।

"ओह्ह ... माई गॉड, शानदार ," मैंने सोचा, मैं अपनी ही आंखों पर विश्वास नहीं हो रहा था जूनि का सफेद शरीर अद्भुत था । उसकी बल कहती हुई उसकी पतली कमर को देख मेरा लंड उग्र होने लगा इस नज़ारे ने मुझ पर जादू किया , स्कर्ट के नीचे उसके नितम्ब गोल और उठे हुए थे। मैंने उनके ऊपरी शरीर का बारीकी से अवलोकन किया। कही कोई चोट नजर नहीं आयी ।


मैंने बोला जूनी मुझे जांच करने दो आपको चोट कितनी और कहाँ लगी है और फिर मैंने धीरे धीरे जूनी के कंधो से लेकर दबाब दे कर धीरे धीरे नीचे सरका कर पता लगाया अंदरूनी चोट ज्यादा गहरी नहीं थी और बोला जूनी खुशकिस्मती से आपकी चोट गहरी नहीं है. और पीठ में दर्द गिरने की वजह से है l

उसके बाद मैंने 10 मिनट तक आइस पैक को उसकी चिकनी पीठ पर धीरे से लगाया । फिर इस क्षेत्र को सुखा दिया। उसके बाद मैंने जूनी की पीठ पर औषधीय तेल मिला दर्द निवारक मरहम लगाया।

फिर मैंने पुछा अब कैसा लग रहा है तो भाभी बोली पहले से दर्द कुछ कम हुआ है पर अभी दर्द है l

मैंने उसकी रीढ़ की हड्डी और उसके किनारों पर मालिश करना शुरू कर दिया, मैंने अपनी उँगलियों से उसके उभरे हुए स्तनों के किनारे से मसलते हुए मालिश की जिससे मेरी हथेलियाँ उसकी रीढ़ के दोनों ओर दबाव डालते हुए तनाव को कम कर रही थी ।

मैं धीरे-धीरे उसकी पीठ की मालिश कर रहा था और फिर जैसे-जैसे समय बीतता गया मेरे हाथ ऊपर जाने लगे, और उसकी पीठ उसके कंधों पर। उसके स्तनों के बड़े और सुडोल होने में कोई संदेह नहीं था, और मुझे उसके नग्न स्तन दिख रहे थे। मुझे अपने कठोर हो चुके लण्ड को काबू में रखने के लिए कठिनाई हो रही थी क्योंकि मैंने सिर्फ लुंगी पहनी हुई थी और इसलिए इसे छुपाना और भी मुश्किल था क्योंकि जब मैं उसे मसाज दे रहा था मेरा लंड उसके बदन को छू रहा था l

मुझे लगा, वो भी मालिश का मज़ा ले रही थी। और जब मेरा लंड उसे बदन को छूता था तो उसकी एक आह निकलती थी जो मुझे और आगे जाने के लिए उत्साहित करती थी. हर बार जब मैंने उसके बाजू , कंधे और स्तन की मालिश की, तो वह झूम उठी थी ।

मेरी उँगलियाँ घुटने के पीछे वाले मुलायम हिस्से और घुटने से थोड़ा ऊपर और नीचे चलने लगी थीं। जूनी की मोच और घुटने का दर्द काफूर होता लगने लगा था। जूनी को लगा उसे सुसू आ रहा है और मैंने उसको रोकने के यत्न में अपनी जांघें जकड़ लीं।''


मैंने जूनी को अपने शरीर को पलटने पीठ के बल चित लेटने का का निर्देश दिया और वो एक आज्ञाकारी रोगी की तरह, उसने अपने शरीर को घुमाया पलटा और पीठ के बल चित लेट गयी। मैंने उसकी स्कर्ट ऊपर की और "ओह माय गॉड!" मैंने कहा , "मुझे लगता है जब जूनी तुम गिरी तो आपके शरीर के कुछ हिस्सों में हलकी खरोंच लग गयी है . जहाँ खरोच के निशान है मुझे वहां मुझे वहां एंटी-सेप्टिक मरहम लगाना होगा।"

कमर के नीचे उसके दाहिने जांघ क्षेत्र में एक खरोंच थी। मैंने वहां मरहम लगाया।

फिर मेरा दूसरा हाथ उसकी दूसरी टांग पर भी चलने लगा है। जूनी का शरीर में कंपकंपी सी होने लगी। मैंने थोड़ा और आगे हुआ जिससे जूनी के तलवे का मेरे लिंग पर दबाव और बढ़ गया था। मेरा लंड पहले से बड़ा हो गया और उसका रुख जूनी के तलवे की तरफ हो गया था। जूनी के तलवे के कोमल हिस्से पर लंड बेशर्मी से लग रहा था।

मैं थोड़ा आगे की ओर खिसका और अपने दोनों हाथ उसके घुटनों के ऊपर... निचली जाँघों तक चलाने लगा। जूनी ले तन-बदन में चिंगारियाँ फूटने लगीं। मेरी उंगलिया अब जूनी की अंदरूनी जाँघों तक जाने लगी थीं। बहुत मज़ा आ रहा था। जूनी का दर्द मालिश और मलहम के कारण काफूर हो गया था।

मैंने पुछा अब कैसा है घुटना तो वो बोली अब बहुत बेहतर है।

वो बोली भाईजान आपने बताया नहीं ?

मैंने पुछा क्या ?

वही सेक्सी क्या होता हैं??

मैंने कहा तुझे जीनत आपी ने बताया नहीं कुछ ?

जूनी बोली हाँ आप और आपी जो रात को करते हैं उसके बारे में कुछ बताया था ।

मैं हसते हुए बोला जो कुछ बताया था आपी ने वो तुझे समझ आया ?

जूनी बोली हां !

अच्छा बता क्या बताया था आपी ने ?

जूनी बोली आपी ने बताया था की निकाह के बाद रात को शौहर और उसकी बीबी का जिस्मी मिलन होता है।

और ?

फिर शौहर और उसकी बीबी एक दूसरे को प्यार करते हैं। शौहर और उसकी बीबी के ओठों को चूमता है। उसके ब्लाउज खोल उसकी ब्रा को उतार कर उसकी चूचियों का चुम्मन लेता है और उन्हें दबाता है। धीरे-धीरे शौहर बीवी के सारे शरीर पर हाथ फेरने लगता है, वह अपना हाथ उसकी जाँघों पर ले जाता है और फिर उसकी दोनों जाँघों के बीच की जगह को अपनी ऊँगली डाल कर उसका स्पर्श करता है। उसे पूरी तरह से नंगी कर देता है और फिर खुद भी नंगा हो जाता है। दोनों काफी देर तक एक दूसरे के अंगों को छूते हैं, उन्हें सहलाते हैं और अंत में शौहर अपनी बेगम की योनि में अपना लिंग डालता है तो बीवी की योनि की झिल्ली फट जाती है और उसे दर्द होता है, योनि से कुछ खून भी निकलता है। बीबी को दर्द होता है इसलिए वो थोड़ा बहुत चिल्लाती है थोड़ी-बहुत देर में बीवी को भी पति का लिंग डालना अच्छा लगता है और वह भी अपने कूल्हे मटका-मटका कर शौहर का साथ देती है। इस क्रिया को सम्भोग-क्रिया या मैथुन क्रिया कहते हैं।''

जूनी एक सांस में सब बोल गयी और अब उसकी आँखे बंद थी और चेहरे पर शर्म थी ।

मैंने फिर उसके गालो पे किस कर दी . उसे अपने बाहो मे थामे रखा. और कहा कि वो बहुत भोली प्यारी , सुंदर और सेक्सी हैं. ??

जूनी बोली भाई जान बताओ न "सेक्सी" का मतलब ?

मैंने कहा आपी ने जिस क्रिया को सम्भोग-क्रिया या मैथुन क्रिया बताया है उसे ही सेक्स भी कहते हैं। और सेक्सी शब्द का यौनिक अभिव्यक्ति के लिए उपयोग किया जाता है। जब किसी लड़का या लड़की की सुंदरता तथा बनावट को देखकर आप आकर्षित होते है या सेक्स करने का मन चाहने लगता है।

मेरी बात सुन वो शर्माने लगी और अपने हाथो में अपना मुँह छुपा लिया ।

तो मैंने कहा अगर छुपना है तो मेरे सीने में अपना चेहरा छुपा लो मुझे भी अच्छा लगेगा वो झट से मेरे से लिप्त गयी और अपना चेहरा उसने मेरे सीने में छुपा लिया।

मैने उसे बड़े प्यार से अपनी बाहों मे उठाया और इस तरह बैठाया अपनी गोद मे कि उसकी नाज़ुक गान्ड मेरे लेग्स पे आ जाए. मैं सब्र से काम लेना चाहता था सो अपने लंड से दूर ही रखा उसे. अब उसकी गान्ड मेरे पैर पे, हाथ मेरे हाथ मे और नज़र मेरे चेहरे पे और कुछ इंचस का डिस्टेन्स मेरे और उसके होंठो मे।

जूनी बोली भाई जान आपी कहाँ गयी ?

मैंने कहा पड़ोस के ठाकुर साहब के यहाँ बच्चा हुआ है। बधाई देने गयी है ।

मैने उससे कहा कि," जूनी तुम जानती हो क्या कि बच्चे कैसे होते हैं?" हर बच्चे की तरह उसे भी बकवास बाते बताई गयी थी। मैने उससे कहा की सब झूठ हैं। तो बोली,"फिर कैसे?". मैने उससे कहा कि मैं बताउन्गा उससे मगर तुम्हे मेरी फीस देनी पड़ेगी ।

तो बोली कितनी पर मेरे पास तो कुछ भी नहीं है।मैं तो कुछ भी पैसे साथ लेकर नही आयी ? आपो बताओ भाई कितनी मैं आपी से लेकर दे दूँगी।

मैने उस पे ज़ोर दिया कि पहले जो मांगूगा वो देगी हाँ बोल. फिर वो मानी।

मैने उसे अब धीरे धीरे अपनी बाहो मे उठाना स्टार्ट किया और अपने लंड की तरफ उसे खीचा।
फाइनली उसकी नरम गान्ड मेरे लंड पे आ टिकी. मैने उसे उठाया सिर्फ लुंगी पहनने की वजह से मेरा लंड उसकी गान्ड पे सॉफ महसूस हो रहा था जब मैने उससे अपनी बाहो मे उठाने की कोशिश की और फिर खेल खेल मे उसे पकड़ने लगा और जितना उसका जिस्म हो सके अपने जिस्म से दबाने लगा। अब मैने उसके हाथो को उसके सिर के उपर कर दिया और अपने हाथो से उसे दबा दिया और मिशनरी पोज़िशन मे आ गया।वो पैर झटक रही थी। मैने उसकी आखो मे देखा. बोली "भाईजान , छोड़ो मुझे!". आपने ये तो बताया नहीं बच्चे कैसे होते हैं ?

मैंने कहा ऐसे ही होते हैं जो मैं और तुम्हारी आपी करते हैं उसी से बच्चे होते हैं ।

कुछ देर सोच कर जूनी बोली भाई जान क्या रुखसाना आपी और सलमा आपी भी रिजवान भाई के साथ यही सेक्स करती है और बच्चे होने में कितना समय लगता है ?

मैंने कहा लगभग नौ महीने ।

और ये कब पता चलता है की बच्चा होने वाला है ?

जब लड़की का पेट फूलने लगता है।

लेकिन रुखसाना आपी के निकाह को तो साल से ऊपर हो गया उसके कोई बच्चा क्यों नहीं हुआ ?

अब मेरा मुँह बंद हो गया।

रुखसाना आपी की बात अपनी रुखसाना आपी से पूछना। अभी मैंने तुम्हे इतना कुछ बताया है चलो उसकी फीस दो !

वो बोली मतलब?? तब मैने उसकी आखो मे देखते हुए उसके लिप्स पे किस किया। सॉल्टी टेस्ट आया। वो शरम से तड़पने लगी पर मैने उसे दबा रखा था। मैने उसे उसका प्रॉमिस याद दिलाया । उससे कहा," कि बच्चे जिस तरह नंगे होते हैं उसी तरह उन्हे पैदा करने वाले भी नंगे ही होने चाहिए।." और फिर सीधा बता दिया कि जब लंड चूत मे जाता हैं तो बच्चा होता हैं। तो उसे कुछ समझ नही आया। मैने कहा जानना चाहती हैं । वो हाँ बोली । मैने उसे खड़ा किया और उसे नंगा करने लगा। और उसकी चड्डी निकालने के बाद तो मानो मेरी साँसे ही रुक गयी । दुनिया की सबसे कीमती,सुंदर चीज़ मेरे सामने थी। उसकी पिंक,बॉल्ड, स्मूद चूत। मन तो किया कि अभी उसी वक़्त उसे चोद डालु । एक भी बाल नही था। बिल्कुल कुवारि चूत । और जिस बात की खुशी मुझे हुई वो ये कि वो गीली थी। मतलब जो भी जिस्म से मैं खेल रहा था वो रेस्पॉंड कर रही थी !!.




कहानी जारी रहेगी
Reply
01-22-2022, 07:57 PM,
#14
RE: Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath
मेरे निकाह मेरी कजिन के साथ



भाग 10



चुदाई किसको कहते है





मैने सिर्फ़ उसकी पेंटी निकाली तो वो पीछे होने लगी. मैने फिर उसे अपनी बाहो मे जकड़ा और बेड पे पटक दिया. उसकी शक़्ल रोने जैसी हो गयी थी. मैने फिर उसे पुचकारा . . मैं खड़ा हो गया उसके सामने और मेरा लंड टेंट बनाए हुए था पॅंट मे. मैने उसे मेरा लंड पकड़ने को कहा. वो ना कहने लगी और खुद की नंगी चूत छुपाने लगी. . मैने उसका हाथ पकड़ा और अपने लंड पे घुमाने लगा और वो अपना हाथ पीछे लेने लगी. मैने उसको कहा कि तू जानती हैं ये क्या हैं.

उसने बड़ी मासूमियत से कहा; लुल्ली . इसी को आप आपी की सुसु वाली जगह में घुसाते हो रात को .

मैने उसे कहा " छोटे बच्चो की लुल्ली होती है और इसे लंड कहते हैं और ये जो तेरे पैर के बीच हैं इसे चूत!!". मैने उससे कहा "देखेगी लंड?". तो वो ना कहने लगी मगर उसकी वो आखे मेरे लंड की ओर ही देखने लगी थी.

मैं समझ गया और अपने लंड को आज़ाद कर दिया. उसने एक झलक देख कर अपनी आखे बंद कर ली. अब उसके दोनो हाथ उसके चेहरे पे थे. उसने अपनी टाँगो को दबा लिया.

मैने उसे फिर से पकड़ा और अपने पास लाया और उसे बिठा दिया और टाँगे बिस्तर पर फैलाने के लिए कहा. उसने टाँगे फैलाई इस बार इसने अपनी टाँगे स्प्रेड कर ली थी. और नंगी होने की वजह से उसकी खूब सूरत चूत मेरी आखो के सामने थी.और मैं अपने दोनों हाथ जूनि के घुटनों के ऊपर... निचली जाँघों तक चलाने लगा। मैंने उससे पुछा अब दर्द कैसा है ?

वो बोली अब कम है .




मैं थोड़ा आगे हुआ और उसका तलवा अब मेरे लंड को छूने लगा था। मैं टांग और घुटने की मालिश करने लगा तो उसका दायाँ पांव अपने आप दायें-बाएं और ऊपर-नीचे होकर उसके लिंग को अच्छी तरह से से छूने लगा था। मेरे तन-बदन में चिंगारियाँ फूटने लगीं। वो टाँगे भींचने लगी जिससे लगा , वो अब खुद को रोक नहीं पा रही थी । उधर मेरी उँगलियाँ अब अंदरूनी जाँघों तक जाने लगी थीं।

मैं अब बेहिचक आगे-पीछे होते हुए अपने हाथ जूनि की जाँघों पर चला रहा था... जूनि का पैर मेरे लिंग का मर्दन कर रहा था। फिर मैं थोड़ा ज्यादा ही आगे की ओर हुआ और मेरे दोनों अंगूठे हल्के से जूनि की चूत से पल भर के लिए छू गए। जूनिएअसे काम्पी जैसे उसे कोई करंट लगा हो ... वो उचक गई और उसने अपनी टांगें हिला कर मेरे हाथों को वहाँ से हटाया और अपने दोनों हाथ योनि पर रख दिए। उसे शर्म आ रही थी कि उसका सुसू निकलने वाला है ।

जूनि की साँसें तेज़ होने लगी... वो बोली मुझे ज़ोरों का सुसू आ रहा है ।

मैं उसे पकड़ कर सहारा देकर बाथरूम ले गया इस बीच मैं उसकी पीठ सहला रहा था .. उसने सुसु करने के लिए बोली मुझे शर्म आती है आप बाहर जाओ तो मैं दरवाजा ब्नद कर बाहर खड़ा हो गया . दो मिनट वाद वो लंगड़ाती हुई बाहर आ गयी ।

मैंने पुछा सुसु हो गया तो वो बोली नहीं ?

तो मैं मुस्कुराया तो वो बोली भाईजान मुझे लगा मेरा सुसु निकल जाएगा पर आया ही नहीं .




"अब दर्द कैसा है?" मैंने पूछा।

"पहले से कम है...अब मैं ठीक हूँ।"

"नहीं... तुम ठीक नहीं हो... अभी लंगड़ा रही हो आराम करो चोट इतनी नहीं है।

तभी घंटी बजी मतलब जीनत आपा वापिस आ गयी थी ..

जूनी बोली आपा आ गयी !! मैं रुक गया और इस बीच जूनी ने जल्दी से अपने कपडे पहन लिए . मैने कंबल उसे से ढक दिया मैं दरवाजा खोलने गया.

उस रात मैंने ज़ीनत आपा की बड़ी धुआंदार चुदाई की . जूनी की कमसिन चूत देखकर मैं बहुत जोश में था और मैंने सारी कसर ज़ीनत आपा पर निकाल दी क्योंकि उस दिन ज़ीनत आपा भी बहुत खूबसूरत लग रही थी . जूनी सारी रात हमारी चुदाई का नंगा नाच देखती रही .

इस तरह 10 दिन निकल गए और जूनी की चोट भी ठीक हो गयी और फिर एक दिन ज़ीनत को पीरियड्स हो गए और मैं उस रात में ज़ीनत आपा को चोद नहीं पाया और ज़ीनत के बूब्स के अंदर ही अपना लैंड डालकर अपना पानी निकाल दिया और ज़ीनत सो गयी ,

इतने में जूनि बोली भाई आज ज़ीनत आपी के अंदर नहीं घुसाया , रोज़ कितना मज़ा आता था उनको , आज कैसा ख़राब लग रहा होगा .

मैंने बोला की ख़राब तो मुझे भी लग रहा है क्योंकि मेरा लैंड भी तो कही नहीं घुस पा रहा हु ज़ीनत को पीरियड्स है ,

जूनी बोली मेरे अंदर घुसा लो में भी तो तुम्हारी दुल्हन हु .

मैंने पूछा चुदाई किसको कहते है मालूम है , वह बोली ज्यादा नहीं, कुछ आपी ने उस दिन बताया था कुछ आपने, लेकिन इतना मालूम है की दूल्हे के अलावा कोई दूसरा मर्द मुझे छूये नहीं, और जब आप आपा में घुसाते हो तो मुझे अच्छा लगता है .




कहानी जारी रहेगी
Reply
8 minutes ago,
#15
RE: Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath
मेरे निकाह मेरी कजिन के साथ

भाग 11

छोटी बेगम की सुहागरात



मेरी बीबी होने के बाबजूद मैंने अभीतक जूनी को चोदने की नज़र से नहीं देखा था क्योंकि मुझे वह बहुत छोटी लगती थी। उस रात उसकी बातों से मैं मस्त हो उठा और मैंने फैसला कर लिया की कल इसकी सुहागरात होगी। और जब सुबह मैंने ज़ीनत आपा को बताया तो वह गुस्सा हो गयी और बोली इसकी इज़ाज़त बड़ो से लेनी पड़ेगी।

तब मैंने कहा मेरा इसके साथ निकाह बड़ो की इजाजत से ही हुआ है अगर उन्हें कोई दिक्कत होती तो अभी इसके साथ मेरा निकाह नहीं करवाते। और मेरी दुल्हन है जब चाहे में इसे चोद सकता हु और जब आप ने अपनी उम्र से कई साल छोटे मुझसे चुदवालिया है तो क्या में अपने से कुछ साल-साल छोटी इस नाज़नीन को नहीं चोद सकता और फिर जहाँ तक बड़ो की इजाजत का सवाल है तो आप भी मुझ से बड़ी हो आप इजाजत दे दो । आप ही तो उसको उस दिन कह रही थी अब तुम बड़ी हो गयी हो और फिर उनको चूमा और प्यार किया और उनको मना लिया। और उन्होंने इजाजत देते हुआ कहा अगर जूनी नहीं ले पायेगी तो मैं जबरदस्ती उसे नहीं चौदूंगा और वह रात में कमरे में रहकर इस का ध्यान रखेगी ।

फिर दिन में आपा ने जूनी का मेकअप और वैक्सिंग करवा के जूनि को त्यार किया और उसका भरपूर शृंगार किया । उस रात जूनी सजने सवारने से बहुत खुश थी । रात में ज़ीनत जूनी को ले कर आयी जूनी ने पश्चिमी दुल्हने शादी के समय जो गाउन पहनती है वह गाउन पहना हुआ था और दुल्हन की तरह सजी हुई थी। ज़ीनत आप बोली सलमान आज जूनी की सुहागरात है तो यादगार तो बनानी ही पड़ेगी इसीलिए उसकी सजाया है ।



[Image: zmirror2.jpg]

फिर ज़ीनत आपा ने पुछा जूनी क्या तुम अपना सब कुछ सलमान को सौंपने के लिए तैयार हो ?जूनी बोली मेरा सब कुछ इन्हीं का है यही मेरे खाबिन्द है। इनके सिवा कोई और मर्द मुझे छु भी नहीं सकता?

अनुपमा बोली सलमान क्या तुम जूनी को चोदने के लिए तैयार हो मैं बोला जूनी की खिदमत में मैं और मेरा औज़ार दोनों हाज़िर और बेकरार हैं। फिर ज़ीनत आप बोली अब सलमान तुम जूनी को किश करो और सब हसने लगे। मैंने पहले-पहले ज़ीनत आपा को किस किया।

और अपनी गोद में उठा कर जूनी को अपने कमरे में अपने बिस्तर पर ले गया ।



[Image: Z1.jpg]
best online photo storage service

मैंने दरवाजा जैसे ही सरकाया तो अंदर लाल रंग की धीमी रौशनी थी और कमरा पूरा फूलो से सजा हुआ था कलियों फूलो से पूरा कमरा महक रहा था बिस्तर भी सुहाग की सेज बना हुआ था और मेरी गोद में दुल्हन भी ही जूनी थी जिसे मैं किस कर रहा था। पीछे-पीछे ज़ीनत आपा भी आ गयी।

मैंने जूनी को बिस्तर पर बैठा दिया एक तरफ ज़ीनत आपा बैठ गयी और जूनी ने अपने मुखड़े को नकाब में छुपा लिया।

मैं दोनों के बीच में बैठ गया और बोला मेरी तो आज लाटरी लग गयी जो मुझे ऐसी नाजनीन कमसिन हसीना सुहागरात मानाने के लिए मिल गयी है । अब-अब जूनि गुलाबी रंग की पोशाक में-में बिना ब्रा और पेंटी के मेरे बिस्तर पर थी और में बहुत आवेश में था।

मैंने जूनी को बांहों में भर लिया और जूनी के माथे पर एक चुंबन कर दिया! " और मैंने एक गुलाब उठाया और जूनी को पेश करते हुए बोला मल्लिका ऐ हुस्न ऐ नाजनीना पेश के खिदमत है आपके गुलाम की और से मोहब्बत का पहले नज़राना। जूनी ने हाथ आगे बढ़ाया तो मैंने उसे अंगूठी पहना दी। फिर धीरे से उसका नकाब हटा दिया।

पहले तो जूनी शर्म से दोहरी हो गई, फिर उसे गले लगा लिया और उसके ओंठो को चूम लिया ये उसका किसी पुरुष के साथ ऐसा आलिंगन पहली बार था, जूनी के कमसिन बदन में कंपकपी-सी हुई.। पर वह जल्द ही मेरा साथ देने लगी।

इतनी कमसिन और नाजनीन दुल्हन भी हुई जूनी आज सजने और मेकअप करके बहुत सुंदर लग रही थी । मैं उसकी देखे जा रहा था तो ज़ीनत बोली सलमाा ऐसी नाजनीन बहुत नसीब वालो को ही मिलती है । अब ये तुम्हारी है । देख क्या रहे हो इसे प्यार करो और मैंने उसको बांहो में भर लिया और दबा दिया । तो वह चिलायी आह! मर गयी ... तो ज़ीनत बोली सलमान आराम से करो ये तुम्हारी ही है । सलमान आराम से करोगे तो बहुत मजे करोगे नहीं तो जैसे हमारी सुहागरात के बाद तुम तड़पे थे वैसे ही पड़पोगे । मुझे भी बात सही लगी और मैंने धीरे-धीरे से करने का फैसला किया।

मैंने उसकी पोशाक उतारने के लिए उसका नक़ाब उतार दीया, मेरे दिल की धड़कनें और तेज होने लगीं, मैं उसके और करीब आ गया और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए. वह घबराहट, शर्म और खुशी से लबरेज होने लगी।

मैं उसे चूम कर थोड़ा पीछे हटा तो जूनी मेरे पास हुई और इस बार उसने मेरे होंठों को चूमा।

फिर क्या था... मैंने उसे खूब चूमा... उसकी पूरी गुलाबी लिपस्टिक... मेरे होंठों में समा गई। मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था।

। फिर मैंने उसे खड़ा किया और उसके मम्मों को खूब भींचा और दबाया।



[Image: Z4.jpg]

मैंने उसकी ड्रेस की ज़िप खोल दी और निचे उतार दी। वह तो मेरे सामने नंगी हो चुकी थी, मैंने उसे उठाया और अपनी गोद में बिठा लिया उसका पतला शरीर मेरी गोद में पूरा समां गया।

मैंने उसके कंधे पर चुम्बन किया और उसने अपना चेहरा दोनों हाथों से ढक लिया। मैंने अपने एक हाथ से उसकी पीठ सहलाई और दूसरे हाथ से जांघों को सहलाने लगा।

मेरे छूने से उसके शरीर में सरसराहट होने लगी, जूनी के मोमो सख्त होने लगे, वह शर्म से लाल होकर मुझसे लिपट गयी।

मैंने उसके उरोजों को थाम लिया। उसके निपल्स को मैंने चूसा-चबाया... काटा... मींजा... खूब खेला... उसके मम्मे... जो मेरी हरकतों से बेहाल होकर लाल हो गए थे।


कहानी जारी रहेगी
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 285 1,289,480 01-24-2022, 10:55 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 247 1,521,774 01-23-2022, 02:32 PM
Last Post: Pyasa Lund
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 130 1,140,290 01-22-2022, 04:49 PM
Last Post: deeppreeti
Star Muslim Sex Kahani खाला जमीला desiaks 100 165,235 01-09-2022, 11:40 AM
Last Post: Sidd
Thumbs Up Hindi Antarvasna - एक कायर भाई desiaks 132 183,363 01-08-2022, 06:14 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Antarvasnax मेरी कामुकता का सफ़र desiaks 223 170,539 12-27-2021, 02:15 PM
Last Post: desiaks
Star Porn Sex Kahani पापी परिवार sexstories 353 1,730,847 12-23-2021, 04:27 AM
Last Post: vbhurke
Star Free Sex Kahani लंसंस्कारी परिवार की बेशर्म रंडियां desiaks 54 584,719 12-23-2021, 04:13 AM
Last Post: vbhurke
Thumbs Up XXX Kahani नागिन के कारनामें (इच्छाधारी नागिन ) desiaks 63 86,303 12-08-2021, 02:47 PM
Last Post: desiaks
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 156 458,533 12-06-2021, 02:26 AM
Last Post: Babasexyhai



Users browsing this thread: deeppreeti, 10 Guest(s)