Muslim Sex Stories खाला के घर में
09-16-2017, 10:24 AM,
#1
Muslim Sex Stories खाला के घर में
खाला के घर में

हाई फ्रेंड्स आप की सेक्सी ग़ज़ल आहमेद ऐक बार फिर आप लोगो की खिदमत मे हाज़िर है. अब मैं आती हूँ कहानी की तरफ और ये कहानी भी मैं वही से शुरू करूँगी जहाँ मैं ने अपनी दोसरि कहानी ख़तम करी थी, जब मैं अब्बू के साथ असग़र साहिब के घर से अपने घर मे शिफ्ट हो गई तो मेरे दिन बोहत बोर गुज़रने लगे, क्यूँ मैं पिछले कुछ मंत्स सेलगातार चुदवा रही थी और मुझे यहा किसी से भी अभी तक बेड रीलेशन बनाने का मोका नही मिल पाया था. किसी मर्द के बगैर मैं अपने आप को बोहत अधूरी महसूस कर रही थी, मुझे अभी तक किसी का साथ नही मिल पाया था इसी लिए मैं बोहत बोरियत महसूस करने लगी थी, फिर ऐसा हुआ के मेरी खाला के घर से शादी का इन्विटेशन आगेया, आफ्टर वन वीक मेरी कज़िन नरेन की शादी थी. मेरी खाला फ़ैसलाबाद मे रहती हैं. खाला के 2 ही बच्चे हैं बड़ी बेटी नरेन 22 साल की और छोटा बेटा कामरन जिसकी उमर 15 साल थी और सब उसे कमी कहते थे. पहले तो अब्बू शादी मे जाने को तय्यार नही हुए के अभी अभी मैं ने यहा जाय्न किया है अगर छुट्टियाँ ली तो कोई प्रॉब्लम्स हो सकती है, मगर फिर मेरे इसरार पर अब्बू मुझे इस शर्त पर ले जाने के लिए तय्यार होगये के वो जल्द ही वापिस आजान्गे. दोसरे दिन मैं और अब्बू फ़ैसलाबाद के लिए निकल पड़े. अभी शादी मे ऐक हफ़्ता था. मेरे आने से नरेन और कामी बोहत खुश हुए. खाला भी बोहत खुश थी मेरे आने पर. खलू को मैं ने नोट किया के वो बोहत कम बोलते हैं और वो बोहत गुस्से वाली तबीयत के हैं पर वो मुझे घूरते रहते हैं. खलू की खामोश और गुस्से वाली तबीयत की वजा से कभी मेरे दिल मे ये बात नही आई के खलू मेरे बारे मे बुरा सोच सकते हैं. हालंके मेरी जिन्सी भूक खलू का सेहतमंद जिस्म देख कर चमक उठी थी मगर खलू की तबीयत की वजा से मैं खुद भी खलू से दूर रही. फिर नरेन और कामी भी खलू से डरते थे. घर मे शादी की तैयारी चल रही थी. अब्बू सारा दिन खलू के साथ होते थे. खाला ने नरेन को कमरे तक सीमित कर दिया था ताकि उसका रूप रंग निखर जाय और मैं शादी की तैयारियो मे खाला का हाथ बटा रही थी. रात मे मैं कमी के कमरे मे सोती थी. 5 दिन तक तो मैं ने अपनी जिन्सी भूक को बर्दाश्त किया मगर फिर मुझ से रहा नही गया. खलू का घर डबल स्टोरी था नीचे 3 कमरे थे जिस मे ऐक ड्रॉयिंग रूम ऐक खाला खलू का बेडरूम ऐक टीवी लौन्च जब के उपर के हिस्से मे भी 3 कमरे थे जिस मे ऐक कमरा नरेन का ऐक कामी का और ऐक कमरा था जो इस वक़्त अब्बू के इस्तीमाल मे था. इस वक़्त रात का 1 बजा था मुझे नींद नही आराही थी और मुझे इस वक़्त ऐक लंड की शदीद ख्वाइश हो रही थी. मैं ने कामी की तरफ देखा तो वो बिल्कुल बे सुध सोरहा था, वैसे भी कामी अभी कम उमर था पर जब कुछ ना हो तो जो भी मिले काम चल ही जाता है, मुझे बेचेनी होने लगी तो मैं बेकरार होकर कमरे से निकल आई, सब से पहले मैं ने अब्बू के कमरे मे झाँका तो वो बे खबर सो रहे थे, फिर मैं ने नरेन के कमरे मे झाँका तो उस के कमरे मे भी अंधेरा था, मैं नीचे आगाई, मैं किचन मे घुस्स गई ताकि कोई ऐसी चीज़ तलाश करने लगी जिस को मैं अपनी चूत मे डाल सकू, फिर मुझे ऐक मोमबत्ती मिल गई जिस की लंबाई 7 इंच और मोटाई 2 इंच थी, मैं ने जल्दी से वो उठा ली. फिर जब मे वापिस उपर जाने लगी तो मुझे खाला और खलू के कमरे मे से हल्की हल्की रोशनी बाहर आती देखाई दी. रात के इस वक़्त कमरे मे रोशनी के होने का ये ही मतलब था के अंदर खाला और खलू जाग रहे हैं. मैं समझ गई के इस वक़्त कमरे मे क्या हो रहा होगा. मैं आहिस्ता से कमरे के नज़दीक गई तो मुझे खाला की सिसकारियाँ बाहर आती हुई महसूस हुई मैं मुस्करा दी और मैं ने की होल से आँख लगा दी. अंदर का मंज़र देख कर मेरे जिस्म मे चोंटियाँ सी रेंगने लगी. अंदर खाला और खलू बिल्कुल नंगे थे. खलू ने खाला को बेड पर लिटाया हुआ था और उन्हो ने खाला की टाँगे उठा कर अपने कंधो पर रखी हुई थी और खुद वो पूरा खाला के उपर झूके होवे थे और खूब ज़ोर ओ शोर से झटके मार रहे थे, खाला बिल्कुल गठरी सी बनी होई थी. मुझे सॉफ महसूस होरहा था के अब खाला का जिस्म ढल चुक्का है, जबके खलू बिल्कुल नोजवानो की तरहा सेहतमंद थे, खाला खलू के शानदार झटके बर्दाश्त नही कर पा रही थी और बुरी तरहा से मचल रही थी, फिर आख़िर कार जब खाला से बर्दाश्त नही होसका तो वो मन्नत भरे लहजे मे बोली, बस करो नरेन के अब्बा बस अब मुझ मे तुम्हारा लंड बर्दाश्त करने की हिम्मत नही है, मैं अब बूढी हो गई हूँ मेरे हाल पर रहम करो अब मुझ से और बर्दाश्त नही होगा. खलू ने ऐक करारा झटका मारा जिस से खाला की चीख निकल गई, खलू हंस कर बोले, बस बेगम साहिबा इतनी जल्दी हिम्मत हार गई अभी तो मैं ऐक बार भी फारिग नही हुआ. खाला बोली, अरे तुम तो जवानो के जवान हो मगर मेरा तो जिस्म ढाल गया है अब मुझे बखस दो तुम तो अपनी ज़रूरत रंडियों को चोद कर पूरी कर लेते हो बस अब मुझे माफ़ करदो मेरी बूढ़ी हड्डियाँ ये ज़ुलूम बर्दाश्त नही कर सकती. खलू बोले, मुझे रंडियों को चोद कर सकून नही मिलता, मेरे लंड की प्यास नही बुझती रंडियों को चोद कर. खाला मचल कर बोली तो मैं और क्या करू तुम्हारे लंड के लिए. खलू ने कहा, बेगम तुमने मेरे लिए किसी लड़की का इंतज़ाम करना है. खाला ने हैरत से कहा, मगर मैं किसी लड़की का इंतज़ाम कहाँ से करू? खलू ने कहा, बेगम तुम कर सकती हो. खाला फिर बोली, मैं कहा से करू तुम ही कोई लड़की बता दो. खलू कुछ देर खामोश रहे और फिर बोले, तुम्हारा गाज़ल के बारे मे किया ख़याल है, जब से वो आई है मेरे लंड की खुजली उसे देख कर बढ़ गई है. खलू की बात सुनकर खाला की आँखे फाट गई और वो बोली, क्या कह रहे हो नरेन के अब्बा गाज़ल नरेन से भी छोटी है और तुम उसके खलू हो कुछ शरम करो. खलू की बात सुनकर मुझे भी झटका लगा और मेरी चूत की खुजली कुछ और बाढ़ गई. खलू कहने लगे, मुझे पता है के गाज़ल मेरी भांजी है पर वो बोहत सेक्सी है तुमने कभी उसके जिस्म को गोर से देखा है कितने बड़े बड़े मम्मे है साली के और कितनी पतली सी कमर है मैं जब भी उसे देखता हूँ मेरा तो लंड ही खड़ा हो जाता है. खलू के मुँह से अपनी तारीफ सुनकर मैं मुस्कराने लगी. खाला तिनक कर बोली, आय हे तुम्हारा लंड तो गधि को देख कर भी खड़ा हो जाता है तुम हो ही इतने ताड़की. खलू हँसे और बोले, हा मैं ताड़की हूँ पर तुम कुछ करो वरना किसी दिन मुझ से बर्दाश्त नही होवा तो उसको सब के सामने ही चोदुन्गा. खाला ने कहा, केसी बेशर्मी की बाते कर रहे हो घर मे गाज़ल का बाप आहमेद अली भी है, तुम शादी तक सबर करो मैं शादी के बाद गाज़ल को रोक लूँगी फिर मैं किसी की मय्यत का बहाना बना कर 3, 4 दिन के लिए कामी को लेकर किसी रिश्ते दार के घर चली जाउ गी फिर घर मे तुम और गाज़ल ही होगे फिर तुम उसको चोद कर अपने लंड की खुजली मिटा लेना. खलू ने कहा, ये तो बाद की बात है पर मैं अभी केसे अपने लंड की खुजली मिताउ, मेरा लंड तो अभी ऐक बार भी फारिग नही हुवा और तुम ठंडी हो गई हो. खाला बोली, इसे मैं चूस चूस कर फारिग कर देती हूँ और तुम कुछ दिन सबर कर्लो. खाला की बात सुनकर खलू ने अपना लंड खाला की चूत मे से निकाला तो मैं खलू का लंड देख कर बेताब हो गई. खलू का लंड कोई 11 इंच लंबा और 3.5 इंच मोटा था. खलू खाला के सीने पर बैठ गये फिर उन्हो ने खाला के दोनो मम्मो के दरमियाँ अपना लंड रखा तो उनका लंड खाला के मुँह के उपर तक जाने लगा. खाला ने उनका लंड अपने मुँह मे ले लिया उसके बाद खलू ने अपने लंड पर खाला के दोनो मम्मो को दबाया और फिर वो तेज़ी से अपना लंड खाला के मम्मो को चोदते हुए उनके मुँह मे अंदर बाहर करने लगे. मेरे दिल चाह रहा था के खाला को हटा कर खुद खलू के नीचे लेट जाउ और बोलू “ली जिए खलू जान आप के लंड के लिए आप की भांजी की चूत हाज़िर है जितना चाहे इसे चोदे और अपनी प्यास भुजाए” पर मैं इस वक़्त अंदर नही जा सकती थी पर मैं ने सोच लिया था के मैं शादी से पहले खुद ही खलू को मोका ज़रूर डोंगी क्यूँ खलू से ज़ियादा मैं बेताब थी उनसे चुदवाने के लिए. मेरी चूत मे अब बोहत जलन होने लगी थी और मुझे ये जलन मिटानी थी इस लिए मैं वाहा से हट गई और कामी के कमरे मे वापिस आगाई. कामी अभी तक बेख़बर सो रहा था. मैं ने लाइट जला दी और अपने सारे कपड़े उतार कर नंगी हो गई, उसके बाद मैं बिस्तर पर लेट गई और फिर मैं ने मोमबत्ती अपनी चूत मे ऐक झटके से घुसा दी, मुझे तकलीफ़ तो बोहत हुई पर मैं ने फिकर नही करी और तेज़ी से मोमबत्ती को अपनी चूत मे अंदर बाहर करने लगी. मुझे मोमबत्ती से लंड जेसा मज़ा तो नही मिल रहा था मगर फिर भी मुझे काफ़ी लज़्ज़त मिल रही थी, लज़्ज़त के मारे मेरी आँखे बंद हो गई और मैं खलू के बारे मे सोचती हुई लज़्ज़त भरी सिसकारियाँ लेने लगी. काफ़ी देर तक मैं अपनी चूत मे मोमबत्ती चलाती रही फिर जब मैं फारिग हो गई तो मैं ने अपनी आँखे खोली फिर जब मे ने कमी की तरफ देखा तो मैं बे सुध हो गई क्यूँ के कमी जाग रहा था उसका नेकर उतरा हुआ था और वो अपने लंड को सहलाता हुआ मुझे देख रहा था.
Reply

09-16-2017, 10:24 AM,
#2
RE: Muslim Sex Stories खाला के घर में
पहले तो मैं कामी को देख कर घबराई और फिर जब मे ने उसका लंड देखा तो मेरी आँखों मे चमक आ गई क्यूँ के कामी का लंड 15 साल की उमर मे भी 7 इंच लंबा और 2 इंच मोटा था, शायद ये खलू का असर था के उसका लंड इस उमर मे भी इतना बड़ा था. मैं बोली, क्या देख रहे हो कामी? कामी ने कहा, आप ये मोमबत्ती अपनी चूत मे क्यूँ डाल रही थी. चूत का सुनकर मुझे झटका लगा और मैं बोली, तुम्हे केसे पता के इस को चूत कहते हैं और ये तुम अपने लंड को क्यूँ सहला रहे थे. मेरी बात सुनकर कामी घबरा गया और फिर वो बोला, वो वो गाज़ल बाजी मैं ने दो तीन बार अब्बू को अपना लंड अम्मी की चूत मे डालते हुए देखा है और जब ही से मुझे पता चला था के इसे चूत कहते हैं. मैं ने कहा अब ये बताओ तुम ने अपनी नेकर उतार कर अपना लंड क्यूँ बाहर निकाला है. कामी फिर घबरा कर बोला, वो गाज़ल बाजी जब आप मोमबत्ती अपनी चूत मे डाल रही थी तो मुझे बोहत अछा लग रहा था इस लिए मेरा लंड खड़ा होगया. मैं मुस्कराई और बोली, अछा ये बताओ के जब तुम ने अपने अब्बू को उनका लंड तुम्हारी अम्मी की चूत मे डालते होवे देखा था तो तुम्हे केसा लगा था? अब कामी की हिम्मत बढ़ी और वो बोला, गाज़ल बाजी मुझे उस वक़्त भी बोहत मज़ा आया था और मेरा दिल चाह रहा था के मैं भी अपना लंड किसी की चूत मे डाल दू. मैं मुस्कराई और बोली, अगर मैं ये बोलू के तुम अपना लंड मेरी चूत मे डाल दो तो. कामी मेरी बात से खुश होवा और बोला, गाज़ल बाजी अगर आप ने मुझे ऐसा करने दिया तो मैं आप की हर बात मानूँगा और जो आप बोलो गी मैं वेसा ही करूँगा . मैं हँसी और बोली बस मेरी ज़ियादा खुशमाद करने की ज़रूरत नही है तुम अपना लंड मेरी चूत मे डाल कर मुझे चोद सकते हो जिस तरहा तुम्हारे अब्बू तुम्हारी अम्मी को चोदते हैं, मगर मेरी इक शर्त है. कामी बोला, केसी शर्त गाज़ल बाजी? मैं बोली, मेरी शर्त ये है के तुम अपनी और मेरी ये बात किसी को नही बताओ गे वरना मैं दुबारा तुम्हे अपने साथ ऐसा करने नही दूँगी. कामी जल्दी से बोला, नही नही गाज़ल बाजी मैं किसी से नही बोलूँगा . मैं फिर बोली दोसरा ये के अब जेसा मैं बोलू तुम ने वेसा ही करना है क्यूँ के तुम इस काम मे नए हो तुम्हे अभी सब सीखना होगा और तुम ने मेरे कहने पर अमल किया तो तुम्हे बोहत मज़ा आयेगा . कमी खुशी से राज़ी होगया और बोला, हा गाज़ल बाजी जेसा आप बोलो गी मैं वेसा ही करूँगा . मैं मुस्कराई और बोली, चलो अब तुम अपने सारे कपड़े उतार दो और बेड पर सीधे लेट जाओ. कामी ने मेरे कहने के मुताबिक अपने कपड़े उतार दिए और बेड पर चित लेट गया. कामी के लेटने से उसका लंड किसी नाग की तरहा खड़ा झूमने लगा था. मैं ने उठ कर कामी का लंड पकड़ लिया और फिर मैं ने झुक कर उसके लंड की टोपी से अपने होन्ट मिला दिए. मैं ने कामी के लंड की टोपी का ऐक लंबा किस लिया फिर जब मैं ने अपने होन्ट लंड की टोपी से हटाये तो टोपी के सुराख से वीर्य का ऐक कतरा निकल आया. मैं ने अपनी ज़बान से कतरे को पूरी टोपी पर फेला दिया और फिर मैं टोपी को मुँह मे लेकर चूसने लगी. काफ़ी देर तक मैं ने लंड की टोपी को चूसा फिर मैं कामी के लंड को चारों तरफ से अपनी ज़बान से चाटने लगी. कामी का ये पहला सेक्स एक्सपीरियेन्स था, इस लिए वो अपनी आन्खै बंद किए मदहोश हो रहा था. मैं पागलों की तरहा चारों तरफ से कामी के लंड को चाट रही थी फिर मैं ने उसका पूरा लंड अपने मुँह मे ले लिया जो मेरे गले के अंदर तक गया फिर मे कामी का लंड दबा दबा कर मज़े से चूसने लगी. थोड़ी देर बाद कामी मचल कर बोला, उफफफफफफफफफ्फ़ गाज़ल बाजी मुझे बोहत ज़ोर का पीशाब लगा है आप मेरा लंड मुँह से निकाल ले. कामी की बात सुनकर मैं और जोश से कामी का लंड चोसने लगी. कामी बोला, आआआहह आआअहह गाज़ल बाजी मुझ से रुक नही रहा है उउउउउउफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ और फिर उसके लंड ने झटका खाया और मेरा मुँह कामी के लंड से निकलने. वाली. वीर्य से भर गया. मैं मज़े से कामी का नमकीन वीर्य पी गई. पूरी. वीर्य पीने के बाद मैं ने कामी का लंड अपने मुँह से निकाला तो वो वीर्य से खराब होरहा था, मैं ने उसका लंड चाट चाट कर सॉफ किया और फिर मैं कामी के ब. मे लेट गई और बोली, कामी डार्लिंग अब तुम मेरे पूरे जिस्म को चॅटो पहले मेरे होंटो का रस चूसो फिर आहिस्ता आहिस्ता नीचे जाकर मेरे पूरे जिस्म को चॅटो, मेरा जिस्म बोहत बेताब होरहा है तुम से चटवाने के लिए, अब जल्दी करो देर ना करो. कामी मेरी बात सुनकर उठ कर बैठ गया मैं ने उसे अपने उपर लिटा लिया और उसके होंटो से अपने होन्ट मिला दिए,
Reply
09-16-2017, 10:25 AM,
#3
RE: Muslim Sex Stories खाला के घर में
मैं बेताबी से कामी के होंटो को चूसने लगी. पहले शायद कामी को मज़ा नही आया था फिर उसको मज़ा आने लगा और उसका लंड अकड़ गया और वो मेरे पेट मे चुभने लगा. अब कामी ने भी मुझे लिपटा लिया और वो भी बड़ी बेताबी से मेरे रसीले होंटो को चूसने लगा. अब कामी को सेक्स का माज़ा आरहा था और फिर उसने खुद ही सब काम करना शुरू कर दिया, पहले वो मेरे होंटो को चूमता हुआ मेरी गर्दन तक आया और वो मेरी गर्दन को चूमने लगा, फिर वो और नीचे आया, अब वो मेरे बड़े बड़े बूब्स पर था, जब कामी ने पहली बार मेरे दोनो बूब्स को दबाया तो मेरी ऐक लज़्ज़त भरी सिसकारी निकल गई, और मैं बोली आआआआआआआअहह कामी अब इन्है दबा दबा कर चूसो, मेरे मम्मो मे बोहत रस है तुम्हे बोहत मज़ा आए गा. कामी ने झट से मेरे बूब्स को खूब दबाना शुरू कर दिया, मुझे बोहत मज़ा आरहा था पर मुझ से भी ज़ियादा मज़ा कामी को आरहा था और वो पूरे जोश के साथ मेरे बूब्स को दबा रहा था, फिर उसने मेरे बूब्स को चूमना और चाटना शुरू कर दिया, काफ़ी दिनो बाद किसी के हाथ मेरे बूब्स को लगे थे और मैं इसका पूरा मज़ा लेरही थी. 20 मिनिट तक कामी ने मेरे बूब्स को चूमा और चॅटा, और फिर से मेरे जिस्म को चूमता हुआ नीचे जाने लगा, वो मेरे पेट से होता हुआ मेरी माखन जेसी मुलायम चूत पर आगेया, कामी मेरी चूत को सूंघ कर बोला, गाज़ल बाजी इस मे से तो बोहत अछी खुसबू आराही है, जेसे माखन की होती है, मैं सिसकारी ले कर बोली आआआआआहह कामी ये माखन तुम्हारे लिए ही तो है, अब देर ना करो और मेरी चूत का सारा माखन खा जाओ. मेरी बात सुनकर कामी मेरी चूत पर ज़बान फेरने लगा, कामी के ज़बान फेरने से मेरी चूत मे गुदगुदी सी होने लगी और मेरे पूरे जिस्म मे जेसे करेंट सा दौड़ने लगा. फिर वो अपनी ज़बान से शापाड़ शापाड़ मेरी चूत को चाटने लगा. मेरी मुँह से तेज़ सिसकारियाँ निकलने लगी थी, मुझे डर हुआ के कही मेरी सिसकारियाँ अब्बू या नरेन तक ना पोहुन्च जाए इसी लिए मैं ने पास ही पड़ा हुआ अपना ब्रेज़र उठाया और अपने मुँह मे ठूंस लिया.
क्रमशः.......
Reply
09-16-2017, 10:25 AM,
#4
RE: Muslim Sex Stories खाला के घर में
खाला के घर में--2
गतान्क से आगे.....

थोड़ी देर बाद ही मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया, कामी ने अपना मुँह मेरी चूत से हटाया नही और वो मेरी चूत का पानी चाटने लगा. सारा पानी चाट लेने के बाद वो फिर से मेरी चूत को चाटने लगा और मेरी बेकरारिया और बढ़ गई. मैं बोली, आआआआअहह कामी अब मुझे और नही तडपा और्र अब मुझे चोद डालो, बोहत दिनो से तरस रही हूँ चोदने के लिए, मेरी बात सुनकर कामी उठ कर बैठ गया, वो मेरे उपर आकर लेट गया, उसने अपने हाथ से अपना लंड मेरी चूत के सोराख पर रखा और ऐक झटका मारा, पहले झटके मे उसका लंड 4 इंच तक मेरी चूत मे गया, मेरे मुँह से ऐक सिसकारी निकली और मैं ने खुद नीचे से अपने चूतड़ को उछाला और उसका पूरा लंड अपनी चूत मे ले लिया, कामी ने फिर अपना लंड टोपी तक मेरी चूत से निकाला और फिर ऐक झटके से उसने वापिस मेरी चूत मे डाल दिया, मेरे मुँह से फिर सिसकारी निकली और फिर कामी खूब ज़ोर ज़ोर से झटके मारने लगा, मुझे बोहत माज़ा आरहा था और मैं बुरी तरहा से सिसकने लगी, आआआअहह आआआअहह उूउउफफफफफफफफफफफफ्फ़ प्यारे कामी और ज़ोर लगाओ आआअहह ऊऊऊऊीीईईईईईईईईईईईई मुझे बोहत माज़ा आरहा है मेरी जान उउउउउउउउउउउफ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्
फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ्फ, 5 मिनिट बाद ही मेरी चूत ने पानी छोड़ दिया और मेरा जिस्म ढीला पड़ गया, कामी अभी फारिग नही हुआ था और वो झटके मारता रहा, मुझे मज़ा आरहा था और मैं मज़े से सिसकारिया लेटी रही, 10 मिनिट बाद मेरी चूत ने फिर पानी छोड़ दिया और कुछ देर बाद कामी के लंड ने भी झटका खाया और वो अपने लंड की मानी मेरी चूत मे छोड़ कर मेरे उपर गिर पड़ा. कामी पसीने पसीने होगया था, ये उसकी पहली चुदाई थी पर उसने पहली ही चोदाइ मे मुझे मस्त कर दिया था. मैं ने अपनी बाहे कामी के गले मे डाल दी और उसे प्यार से चूमने लगी, कामी भी मेरा साथ देने लगा, हम दोनो इसी तरहा लेटे हुए 15 मिनिट तक किस करते रहे, फिर कामी का लंड फिर से अकड़ गया और वो मेरे पेट मे चुभने लगा, लंड की सख्ती महसूस करते ही मैं ने कामी को खुद पर से उतार दिया और फिर उसको लिटा कर मैं उसका लंड दोबारा से चूसने लगी, जब उसका लंड किसी लोहे की तरहा सख़्त होगया तो मैं ने उसका लंड अपने मुँह से निकाल दिया, और फिर मैं बेड से उतर कर अपने चारों हाथ पैरों मे डोगी स्टाइल मे खड़ी होगई, और कामी से बोली, कामी अब तुम ने मेरी गंद मारनी है, डोगी स्टाइल मेरा सब से पसंदीदा तरीका था चुदवाने के लिए. कामी मेरे पीछे आकर घुटनो के बल बैठ गया, उसने अपने दोनो हाथो से मेरी गंद के लबों को खोला और अपना लंड मेरी गंद के सोराख मे फिट कर दिया, मैं बोली, कामी अब खूब ज़ोर ज़ोर से झटके मार कर मेरी गंद मारो, मेरी बात सुनकर कामी ने ऐक ज़ोरदार झटका मारा, मुझे कामी से इतने ज़ोरदार झटके की उमीद नही थी, पहले ही झटके मे कामी का पूरा का पूरा लंड मेरी गंद को बुरी तरहा से चीरता हुआ जड़ तक अंदर घुस्स गया, कामी के झटके के ज़ोर से मैं हल्के से चीखते हुए गिर पड़ी, कामी ने मुझे उठाया नही और वो मेरे उपर झुक आया और फिर उसने खूब ज़ोर ज़ोर से झटके मारने शुरू कर दिए, कामी के झटके बोहत ज़ोरदार थे इसी लिए मैं ने फिर से अपना ब्राज़ेर अपने मुँह मे घुसा लिया ताकि मेरे मुँह से चीखे ना निकले. ऐक शॉट के बाद ही कामी को चोदना आगया था और वो बड़ी महारत से मेरी गंद खूब ज़ोर से मारने लगा, कामी ने पूरे 25 मिनिट तक मेरी गंद मारी और फिर वो मेरी गंद मे ही फारिग होगया, मैं अजीब से अंदाज़ मे पड़ी होई थी और बोहत थक चुक्की थी इस लिए जब कामी ने मुझे छोड़ा तो मैं वही लेट गई. कामी ने मेरी उमीद से बढ़ कर मुझे मज़ा दिया था और मैं बोहत खुश थी. कामी मेरे पास बैठ गया और बोला, किया आप थक गई हैं गाज़ल बाजी? मैं मुस्कराई और बोली, नही प्यारे अभी नही अभी तो मैं ने तुम से और मज़ा लेना है, कामी बोला, हा अभी मेरा भी दिल नही भरा है. मैं मुस्करा कर बोली, प्यारे तो मैं ने कब मना किया है, जो करना है मेरे साथ करो. कामी वही मुझ से लिपट कर लेट गया और मुझे किस करने लगा. मैं बोहत प्यासी थी इस लिए मैं ने उसे सुबह 5 बजे से पहले नही छोड़ा और इस दोरान कामी के लंड ने 4 मर्तबा और मेरी चूत और गंद को खराब किया. दोसरि सुबह मैं उठी तो बोहत खुश थी, खुश कामी भी था पर ये वक़्त ऐसा नही था जो मैं कामी को और मोका देती, अलबत्ता खलू मुझे घूर रहे थे, मुझे डर हुआ के कही उन्है शक तो नही होगया है, फिर मैं ये सोच कर खुश होगई के अगर शक भी होगया है तो मुझे किया, मैं तो खुद उनसे चुदवाना चाहती थी, कामी दिन भर इस उमीद पर मेरे इरद गिर्द मंडलाता रहा था के शायद उसे फिर मोका मिल सके मुझे चोद्नने का मगर दिन भर मे उसे ये मोका नही मिल सका, रात मे जब मैं और कामी सोने के लिए कमरे मे पहुचे तो उसने फॉरन ही मुझे पकड़ लिया और शिकायती लहजे मे बोला, गाज़ल बाजी आप ने दिन भर मे मुझे मोका ही नही दिया और मैं अपना लंड पकड़े पकड़े सारे घर मे घूमता रहा,
Reply
09-16-2017, 10:25 AM,
#5
RE: Muslim Sex Stories खाला के घर में
कामी की बात सुनकर मेरी हँसी निकल गई और मैं उसे बेड तक ले आई और बड़े प्यार से बोली, मेरे चोदु राजा क्या तुम ने नही देखा के दिन भर मैं ने खाला के साथ काम करवाया है, अब तुम नाराज़ ना हो, ये पूरी रात हमारी है, रात भर मुझे खूब चोदो और अपनी शिकायत ख़तम कर दो. अब शिकायत करने का मोका भी नही था इस लिए कामी ने मेरे कपड़े उतारने शुरू कर दिए, थोड़ी देर मे ही कमरा मेरी लज़्ज़त भरी सिसकारियों से गूँज रहा था क्यूँ के कामी ने मुझे कुत्तों की तरहा चोदना शुरू कर दिया था. फिर 2 दिन और गुज़र गये और नरेन की माइयों का दिन आगेया, माइयों के दिन कुछ मेहमान और भी रुक गये थे इस लिए कामी मुझे उस रात नही चोद पाया. माइयों के बाद मेहंदी भी गुज़र गई और मैं कामी के लंड के नीचे नही आसकी, कामी बोहत गुस्से मे था और मुझे चोदने के लिए पागल होरहा था पर ना वो कुछ कर सकता था और ना मैं. फिर बारात का दिन आगेया, सब घर वाले और मेहमान मॅरेज लॉन मे पहुँच चुक्के थे, मैं ने शरारे के साथ काफ़ी टाइट ब्लाउस पहना हुआ था जिस मेरे बड़े बड़े मम्मे साफ नुमाया होरहे थे, मैं बोहत से लोगों की निगाहों का केंद्र थी, लोग मुझे पलट पलट कर देखते थे और मैं मुस्करा कर गुज़र जाती थी. फिर जब पकवान हाउस से खाना लॉन मे डेलिवर होरहा था तो खलू अपनी निगरानी मे खाना किचन मे पहुच वा रहे थे, मैं किसी काम से खलू के पास आई तो मेरा पावं ऐक तार मे उलझ गया और मैं धदाम से खीर के तसलों पर गिर पड़ी, मुझे गिरने से चोट तो इतनी नही आई थी पर मेरे सारे कपड़े खीर से खराब हो चुक्के थे. मेरी हालत देख कर अब्बू और खाला भी मेरे पास आगाये, मसला मेरे कपड़ों का था इस लिए ये तय होवा के मैं खलू के साथ घर जाउन्गि और कपड़े चेंज कर के आ जाउन्गि , फिर जब मैं खलू के साथ जाने लगी तो मैं ने बोहत से लोगों के चेहरे पर मुस्कराहट देखी पर मैं ने उन सब को इग्नोर कर दिया. फिर जब मैं घर आकर नहाने के लिए घुस गई, अभी मैं ने अपने सारे बदन पर पानी डाल कर खीर को धोया ही था के ऐक दम से वॉशरूम का दरवाज़ा खुला और खलू बिल्कुल नंगे वॉशरूम मे घुस आए, खलू का नंगा बदन देख कर मेरा दिल ज़ोर से धड़का पर मैं नाटक करती हुई बोली, अरे आप यहा क्या कर रहे हैं और आप ने कपड़े क्यूँ नही पहने हैं? खलू ने मेरे करीब आकर मुझे पकड़ लिया और बोले, गाज़ल मैं भी तुम्हारे साथ नहाने आया हूँ. मैं अपने आप को छुड़ाती हुई बोली, प्लीज़ खलू क्या कर रहे हैं छोड़िए मुझे मैं आप की भांजी हूँ, कोई देख ले गा. खलू ने मुझे दीवार से लगा दिया और बोले, यहा कोई नही है जो देख ले सिर्फ़ मैं हूँ और तुम बस अब ज़ियादा नाटक ना करो. मैं ने फिर खुद को छुड़ाने की कोशिश करी और बोली, मैं नाटक नही कर रही हूँ, छोड़िए मुझे, मैं ऐसी लड़की नही हूँ. मेरी बात से खलू को थोड़ा गुस्सा आगया और उन्हो ने मेरे लंबे भीगे हो बॉल खींच लिए जिस की वजा से मेरे मुँह से आअहह निकल गई, वो बोले, साली हरामजादि मुझ से झूट बोल रही है, रंडी की बच्ची तू ने अपने ये बड़े बड़े मम्मे देखे हैं, 2 साल पहले जब मैं ने तुझे देखा था जब तो ये इतने बड़े नही थे, क्या तू ने इन मे हवा भर वाली है, साली मदारचोड़ क्या मुझे नही पता ये इतने बड़े क्यूँ होगये हैं, ये कह कर उन्हो ने फिर मेरे बालों को खींच कर मेरे बड़े बड़े मम्मो को दबाया तो मैं सिसकारी ले कर बोली, आआअहह खलू जान तकलीफ़ तो ना दे, मैं कही भागी तो नही जा रही, जो करना है प्यार से करो, अब मेरा नाटक करना बेकार था इस लिए मैं ने खलू को ग्रीन सिग्नल दे दिया. खलू मेरी बात सुनकर मुस्कुराए और बोले, अब आई है ना लाइन पर, ये कह कर उन्हो ने ज़ोर से मेरे मम्मो को दबा कर अपने होंटो को मेरे होंटो से मिला दिया, मैं ने भी अपनी बाहों को खलू के गले मे डाल दिया और उनको अपनी तरफ खींच कर उन के किस का साथ देने लगी. काफ़ी देर तक खलू मुझे वही खड़े मेरे मम्मो को दबा दबा कर किस करते रहे, फिर उन्हो ने मुझे अपनी गौद मे उठाया और मुझे लाकर कमरे मे बेड पर लिटा दिया. फिर खलू मेरे उपर लेट गये और मेरे होंटो को चूमने लगे, खलू का आकड़ा हुआ लंड मेरी नाभि के नीचे चुभ रहा था और मैं उसे पकड़ने के लिए बेताब होरही थी. खलू बड़े माहिराना स्टाइल मे मेरे होंटो का रस चूस रहे थे जिस मुझ पर मदहोशी छा रही थी, मेरे होंटो का सारा रस चूस लेने के बाद खलू मेरी गर्दन पर अपनी ज़ुबान फ़ीराने लगे तो मेरी बेकरारियाँ उँचाई पर पहुच गई, मेरी चूत पूरी गीली हो चुक्की थी और उनके लंड के लिए तड़प रही थी मगर खलू ज़ालिम बने मुझे तरसा रहे थे, फिर मुझ से बर्दाश्त नही हो सका तो मैं बोल पड़ी, आअहह खलू जान क्यूँ तडपा रहे हैं मुझे, मुझ से अब बर्दाश्त नही होरहा है प्लीज़ जल्दी से मुझे चोद दो, खलू पर मेरी बात का असर नही हुआ और वो मेरी गर्दन को ही चूमते रहे, फिर खलू मेरे मम्मो को दबाने लगे और मैं तड़पने लगी,
Reply
09-16-2017, 10:35 AM,
#6
RE: Muslim Sex Stories खाला के घर में
मेरी चूत मे आग दहक रही थी, फिर जब खलू ने मेरे ऐक मम्मे के निपल को अपने दाँतों मे लेकर काटा तो मुझे से मज़ा बर्दाश्त नही हुआ और मेरी चूत ने बिना चुदे ही पानी छोड़ दिया. मेरे झाड़ जाने का खलू को भी एहसास था और वो मुस्कराने लगे और बोले, बस गाज़ल डार्लिंग इतनी ही हिम्मत थी, मुझे शर्मिंदगी तो हुई पर मैं बोली, हा खलू जब से अपना का मस्त लंड देखा है मुझे खुद पर काबू रखना मुश्किल होरहा था, कितने दिन से मैं ने खुद को रोका हुआ था, आज मोका मिला तो आप आज भी तरसा रहे हैं, मेरी बात सुनकर खलू चोन्के और बोले, तुम ने कब देखा था मेरा लंड? मैं कहने लगी, जब आप 5 दिन पहले रात मे खाला जान को चोद्ते हुए मुझे चोदने की बात कर रहे थे तो मैं ने सब सुना भी था और देखा भी था, बस जब से ही मैं आप के लिए तड़प रही थी, और अपनी तड़प मिटाने के लिए मुझे कामी का सहारा लेना पड़ा था, खलू फिर चोन्के और बोले, किया कामी तुम्हे चोद चुक्का है? मैं मुस्कराई और बोली, हा खलू जान जब आप के लंड ने मुझे पागल कर दिया था इस लिए मुझे अपनी हालत को संभालने के लिए कामी से चुदवाना पड़ा था, पर कामी भी कम नही है उसने खूब मेरी चीखै निकाली थी. मेरे मुँह से अपने बेटे की तारीफ सुनकर खलू फखर से बोले, आख़िर बेटा किस का है. मैं नाराज़ लहजे मे बोली, हा मगर आप के बेटे ने तो मुझे फॉरन ही चोद कर मुझे ठंडा कर दिया था पर आप ज़ालिम बने हुए मुझे तडपा रहे हैं, मेरी बात सुनकर खलू हँसे और बोले, अभी लो मेरी जान, ये तो तुम्हे सेक्स मे और पागल करने के लिए कर रहा था, फिर खलू मेरी चूत पर झुक गये और मेरी चूत को चाटने लगे, खलू ने कुछ ऐसे वहशी पन से मेरी चूत चाती के मेरी चूत ने फिर पानी छोड़ दिया, खलू ने मेरी चूत का सारा पानी चाट लिया फिर वो लेट गये और उनका 11 इंच लंबा और 3.5 इंच मोटा लंड किसी पोल की तरहा तन कर खड़ा होगया और किसी नाग की तरहा झूमने लगा. मैं जल्दी से उठ कर बैठ गई, मैं ने खलू का शानदार लंड पकड़ा तो वो मेरे हाथ मे आकर वो कुछ और अकड़ गया और मेरे हाथ मे तड़पने लगे, मुझे खलू के लंड पर बोहत प्यार आने लगा था, मैं ने झुक कर खलू के लंड की टोपी का बड़े प्यार से बोसा ले लिया, फिर मैं अपनी ज़बान उनकी टोपी पर फेरने लगी, उसके बाद मे ने अपनी ज़बान से उनका लंड चारों तरफ से चाटना शुरू कर्दिया, मैं उनके टट्टों से चाट्ती हुई उनके लंड की टोपी तक जाती फिर दोसरि तरफ से चाट्ती हुई लंड के जड़ तक पहुच जाती, मेरे इस तरहा चाटने से खलू पागल होगये, उन्हो ने मेरे सरको पकड़ा और अपना पूरा लंड मेरे मुँह मे घुस्सा दिया, खलू का लंड मेरे हलक़ से भी नीचे तक गया, मुझे ऐक दम से फंदा लगा पर खलू ज़ोर ज़ोर से अपना लंड मेरे मुँह मे अंदर बाहर करने लगे, उनका लंड मेरे हलक़ को छीलता हुआ मेरे मुँह मे अंदर बाहर होरहा था. खलू के अंदर ऐक वहशी जानवर छुपा हुआ था और वो इस वक़्त अपनी वहशत का ही मुज़ाहिरा कर रहे थे, इस तरहा से मुझे बोहत मज़ा आता है और मैं पूरा मज़ा ले रही थी, खलू 15 मिनिट तक मेरे सिर को पकड़े हुए अपने लंड से मेरे मुँह को चोद्ते रहे, फिर उन्हो ने अपना लंड मेरे मुँह से निकाल लिया


फिर ख़ालू बोले, गाज़ल तुम्हे सब से ज़ियादा किस स्टाइल मे चुदवाने मे मज़ा आता है, मैं कहने लगी, खलू जान आप मुझे डोगी स्टाइल मे चोदो, मुझे डोगी स्टाइल बोहत पसंद है क्यूँ के इस स्टाइल मे लंड बोहत फँस फँस कर चूत और गंद मे जाता है, खलू ने मेरे चूतर पर हाथ मारा और बोले, चलो फिर आजाओ डोगी पोज़िशन मे, मैं झट से बेड से उतरी और नीचे कार्पेट पर डोगी स्टाइल मे खड़ी होगई, खलू मेरे पीछे आगाये, उन्हो ने घोटनो के बल बैठ कर अपना लंड मेरी चूत के सोराख मे फिट किया और ऐक बोहत ज़ोरदार झटका मारा, खलू का ये झटका बोहत ज़ोरदार था, मुझे इतने ज़ोरदार झटके की उमीद नही थी, मैं ऐक दम से तकलीफ़ के मारे चीखती हुई गिर पड़ी, मेरी चीख सुनकर खलू को और जोश आया, उन्हो ने अपने दोनो हाथों से मेरे दोनो बूब्स को पकड़ कर मुझे दोबारा डोगी स्टाइल मे खड़ा किया और फिर झटका मारा, मैं फिर ये झटका बर्दाश्त नही कर पाई और दोबारा से चीखती हुई गिर पड़ी, खलू ने फिर मेरे बूब्स को पकड़ कर मुझे दोबारा खड़ा किया, फिर वो मेरे उपर चढ़ आए और उन्हो ने मेरे बूब्स को पकड़े रखा, और फिर उन्हो ने दोबारा से झटका मारा, मैं फिर ज़ोर से चीखी पर खलू ने मेरे बूब्स को कस कर पकड़ रखा था, मैं अब झटके के ज़ोर से गिर तो नही पाई मगर मेरे बदन को ज़ोर का झटका लगा और मैं आगे झुकी तो खलू ने मेरे बूब्स तो कस कर पकड़ ही रखे थे,
Reply
09-16-2017, 10:35 AM,
#7
RE: Muslim Sex Stories खाला के घर में
मेरे आगे झुकने से वो कुछ और दब गये, और दर्द के मारे मैं फिर चीख पड़ी. अब की बार खलू रुके नही और खूब ज़ोर ज़ोर से झटके मारने लगे, ये चुदाई मेरे ज़िंदगी की सब से तकलीफ़ देय चुदाई थी क्यूँ के ऐक तो खलू का लंड बोहत बड़ा और मोटा था और फिर वो जिस तरहा से मेरे उपर सवार थे ऐक तो उनका पूरा वज़न मेरे उपर था दोसरा उन्हो ने मेरे बूब्स को बोहत कस कर पकड़ रखा था और फिर झटके मारने के साथ साथ मेरे बूब्स इंतिहा हद तक दब रहे थे जिस से मुझे तीन तरफ से दर्द बर्दाश्त करना पड़ रहा था, ऐक दर्द मेरी चूत का दोसरा दर्द मेरी कमर का और तीसरा दर्द मेरे माखन जेसे मुलायम बूब्स का जिस को खलू बड़ी बेदर्दी से दबा रहे थे. मैं खलू के 10 वे झटके पर ही झाड़ चुकी थी, आज तक किसी से चुदवाते हुए मैं इतनी जल्दी नही झड़ी थी, मैं बुरी तरहा से चीख रही थी, और खलू मेरी चीखों की परवाह ना करते हुए बोहत बुरी तरहा से मेरी चुदाइ कर रहे थे, 5 मिनिट बाद मे फिर झाड़ गई, फिर खलू ने अपना लंड मेरी चूत से निकाला तो मैं ने थोड़ा सूख का साँस लिया, मगर दोसरे ही लम्हे मैं बुरी तरहा से चीख पड़ी क्यूँ के खलू ने बड़ी बे दरदी से अपना लंड मेरी गंद मे घुस्सा दिया था, अब वो कुत्तों की तरहा मेरी गंद मार रहे थे और मैं फिर से बुरी तरहा से चीख रही थी, मेरी गंद का सूराख मेरी चूत से ज़ियादा टाइट था और मुझे बोहत दर्द बर्दाश्त करना पड़ रहा था. मैं पसीने मे शराबोर हो चुक्की थी और खलू के वज़न से मेरी कमर दुखने लगी थी, शायद खलू को इतनी टाइट चूत और गंद कभी नही मिली थी इस लिए वो बोहत बुरी तरहा से मुझे चोद रहे थे, खलू 20 मिनिट तक मेरी गंद मारते रहे, इसी दोरान दोसरे कमरे से फोन की बेल बजने की आवाज़ आने लगी, पहले तो खलू ने बेल पर कोई तवज्जा नही दी, मगर जब बेल लगातार बजती रही तो खलू मेरे उपर से उतर गये और दोसरे कमरे मे फोन सुनने चले गये,

क्रमशः.......
Reply
09-16-2017, 10:35 AM,
#8
RE: Muslim Sex Stories खाला के घर में
Raj-Sharma-stories


खाला के घर में--3 गतान्क से आगे.....
खलू के जाते ही मैं ने सूख का सांस लिया और वही पर लेट कर लंबे लंबे सांस लेने लगी, आज तक 2 या 3 लोगों से ऐक साथ घंटों चुदवा कर भी मेरी ये हालत नही हुई थी जो खलू ने कुछ देर मे ही करदी थी, मैं सोचने लगी के पता नही खलू का लंड कब फारिग होगा और वो ऐक ही शॉट मारेंगे या अगला शॉट भी लगाएँगे , फिर मुझे शादी का ख़याल आया तो मैं परेशान होगई, चुदाई मे मैं तो भूल ही गई थी सब हमारा शादी हॉल मे इंतिज़ार कर रहे होंगे. मैं ने सोचा के खलू को भी इस बात का ख़याल भी है या वो भी मेरी तरहा भूले हुए थे. थोड़ी देर बाद कमरे मे आगाये, उनका लंड अभी भी वैसे का वेसा ही आकड़ा हुआ था, फिर जब वो चलते हुए मेरे पास आने लगे तो चलने की वजा से उनका लंबा और मोटा लंड बुरी तरहा से हिलने लगा, खलू के लंड की ये हालत देख कर मैं बुरी तरहा से गरम होगई, खलू मेरे पास आए तो मैं ने उठ कर उनका लंड पकड़ लिया और अपने मुँह मे ले लिया और चूसने लगी, खलू कहने लगे, गाज़ल तुम्हारी खाला का फोन था वो पूछ रही थी के इतनी देर क्यूँ हो रही है तो मैं ने बता दिया. खलू की बात सुनकर मैं ऐक दम से घबरा गई और मैं ने उनका लंड अपने मुँह से निकाल दिया और बोली, क्या बोल दिया आप ने, खलू मेरी बात सुनकर मुस्कुराए और बोले, अरे घबरा क्यूँ रही हो, मैं ने बोल दिया है के कार खराब होगई है इस लिए देर हो रही है. खलू की बात सुनकर मैं ने सूख का सांस लिया और बोली, खलू जान आप ने तो मुझे डरा ही दिया था, खलू मुस्करा कर बोले, मगर तुम ने हमारी बाते सुन ली थी जब मैं तुम्हारा ज़िक्र कर रहा था और तुम्हारी खाला को तुम्हे चुदवाने के लिए राज़ी कर रहा था, मैं बोली, हा वो तो ठीक है पर अभी सही लगे गा क्या, आज आपकी बेटी की शादी है और आप मुझे यहा चोद रहे हैं. खलू ने झुक कर मुझे चूम लिया और बोले, वैसे गाज़ल तुम्हारी चूत और गंद बोहत टाइट है तुम्हे चोद कर बोहत माज़ा आरहा था, मैं थोड़ी नाराज़गी से बोली, हा आप को तो मज़ा आरहा था पर मेरी तो मा चोद गई ना आप से चुदवा कर, खलू ने हंस कर मेरे बूब्स को ज़ोर से दबाया और बोले, मेरी जान अभी मैं फारिग कहा हुआ हूँ, अभी तो तुम्हारी बोहत चुदाई बाकी है, मैं लाड भरे लहजे मे बोली, लगता है आप मुझे इस काबिल ही नही छोड़ेंगे के मैं किसी और से चुदवा सकू, खलू ने हंस कर मुझे अपनी गौद मे उठा लिया और बोले, हा मेरी जान मे यही चाहता हूँ के तुम मेरे बाद किसी से भी नही चुदवा सको, ये कह कर वो मुझे लेकर बाथरूम मे आ गये. खलू ने मुझे शावर के नीचे बिठाया और खुद मेरे सामने खड़े होगे, उनका लंड बिल्कुल मेरे मुँह की सीध मे था, मैं ने उनका लंड मुँह मे लेने के लिए जैसे ही आगे की तरफ झुक कर अपना मुँह खोला तो ऐक दम से खलू के लंड से पेशाब की ऐक तेज़ धार निकल कर मेरे मुँह मे जाने लगी, मैं ने ऐक दम से घबरा कर अपना मुँह बंद कर लिया, पर फिर भी काफ़ी सारा पेशाब मेरे हलाक़ से नीचे उतर गया, मुँह बंद होजाने की वजा से उनकी धार सीधी मेरे मुँह से टकराने लगी, मैं पेशाब की धार से बचने के लिए ऐक दम से लेट गई, खलू ने आगे बढ़ कर अपना पेशाब मेरे पूरे जिस्म पर करना शुरू कर दिया, मैं बोली, खलू ये किया हरकत है, मेरी बात पर खलू फिर हंस दिए और बोले, जानू ये तो सेक्स का ऐक अंदाज़ है कहो पसंद आया, मैं क्या बोलती खामोश रही, उधर खलू की पेशाब की तेज़ धार मेरे जिस्म का मसाज कर रही थी. खलू ने पूरे 5 मिनिट तक मेरे उपर पेशाब किया, फिर उन्हो ने शवर खोल दिया और फिर पानी से मेरा सारा जिस्म धुल गया. फिर खलू ने साबुन उठाया और मेरे पूरे जिस्म पर मलना शुरू कर दिया, मैं भी खलू को साबुन मलने लगी, खलू ने काफ़ी सारा साबुन मेरी चूत और गंद मे अंदर तक लगाया, फिर उन्हो ने मुझे दीवार से उल्टा कर के लगा दिया और फिर उन्हो ने मेरे पीछे आकर मुझे थोड़ा सा झुकाया और अपना लंड मेरी चूत मे घुसा दिया, साबुन की वजा से उनका लंड फिसलता हुआ मेरी चूत मे पूरा का पूरा चला गया और फिर खलू खूब ज़ोर ज़ोर से झटके मार कर मेरी चूत की चुदाई करने लगे. खलू बोहत तेज़ी के साथ झटके मार रहे थे, मैं जो दीवार से बिल्कुल लगी हुई थी उनके झटको की वजा से मैं दीवार से रगड़ खा रही थी, मेरे बड़े बड़े मम्मे दीवार के साथ बुरी तरहा से घिस रहे थे, मुझे तकलीफ़ के साथ साथ माज़ा भी खूब आरहा था, और मैं अपनी चुदाई को पूरी तरहा से एंजाय कर रही थी, खलू ने 10 मिनिट मेरी चूत चोदि फिर उन्हो ने अपना लंड मेरी चूत से निकाल कर उसी पोज़िशन मे मेरी गंद मे डाल दिया और फिर वो खूब तेज़ी के साथ मेरी गंद मारने लगे. खलू आधे घंटे तक बारी बारी मेरी चूत और गंद मारते रहे,
Reply
09-16-2017, 10:35 AM,
#9
RE: Muslim Sex Stories खाला के घर में
फिर जब वो फारिग होने लगे तो उन्हो ने अपना लंड मेरी चूत से निकाला और मुझे सीधा कर के मुझे घोटनों के बल बिठा दिया, मैं ने घोटनों के बल बैठ कर खलू के लंड की तरफ देखा ही था के उनके लंड से वीर्य ऐक फव्वारे की तरहा निकला और मेरे चेहरे से टकराया, मैं तो दीवार से लगी हुई थी इस लिए मैं अपना मुँह घुमा भी नही सकती थी, खलू ने अपने लंड की सारी मनी मेरे चेहरे पर फेंक दी, काफ़ी सारी मनी मेरे मुँह मे भी चली गई थी. खलू ने फिर मुझे नहलाना शुरू कर दिया, नहाने के बाद मैं जल्दी जल्दी कपड़े पहेन कर तय्यार हुई और फिर हम वापिस शादी हॉल मे पहुच गये. हॉल मे बारात आचुकी थी और निकाह भी होगया था अब बस खाना खोलने ही वाला था, खाला स्टेज के पास ही खड़ी थी, मैं और खलू खाला के पास पहुच तो खाला मुझे देख कर मुस्कराई और बोली, इतनी देर कहा लगा दी यहा तो निकाह भी होगया है, मैं कहने लगी, वो खाला जान कार खराब होगई थी इस लिए देर होगई, खाला मेरी बात सुनकर मेरे नज़दीक आगई और बोली, कार ही खराब होई थी या कोई और बात है, मैं ऐक दम से घबरा गई और बोली, नही खाला जान कार ही खराब हुई थी, खाला मुस्कराई और बोली, अछा तुम्हारे खलू ने तो मुझे कुछ और ही बताया था, मैं और ज़ियादा घबराई और फिर मैं ने खलू को देख कर खाला से बोली, कक क्या बताया था खलू ने, मेरी बात पर खलू हंस दिए, जब के खाला भी मुस्करा कर बोली, यही के तुम अपने खलू के साथ उनके बेडरूम मे थी, अब तो मेरे हाथो से तोते उड़ गये, मैं ने घबरा कर शिकायती नज़रों से खलू को देख तो खलू हंस कर बोले, गाज़ल वो मुझ से झूट नही बोला गया और मैं ने घर पर ही फोन परतुम्हारी खाला को सब कुछ सच सच बता दिया था के हमे देर होजायेगी इस लिए वो यहा बात संभाल लेना. खाला ने आगे बढ़ कर मुझे गले लगा लिया और बोली, गाज़ल बेटी मैं तुम से बोहत खुश हूँ तुम ने मेरी बोहत बड़ी मुश्किल हाल कर दी है, ये जो तुम्हारे खलू हैं ना बड़े ही ताड़की हैं, इनकी हविस ही कम नही होती, मैं तो अब बूढ़ी होगई हूँ और्र अब मुझ मे इनका लंड सहने की हिम्मत नही बची है, तुम ये बताओ के तुम्हे ज़ियादा दर्द तो नही हुआ, काफ़ी बड़ा और मोटा लंड है तुम्हारे खलू का, अब मैं भी नॉर्मल हो चुक्की थी पर मुझे खाला के सामने शरम आराही थी और मैं शरमाती होई बोली, हा खाला जान दर्द तो बोहत हुआ था पर मज़ा उस से भी ज़ियादा आया था, खलू ने फिर मुझे प्यार से चूमा और मेरे गाल पर किस कर के बोली, खुश रहो मेरी बच्ची. अभी खाला मुझे प्यार ही कर रही थी के पीछे से अब्बू की आवाज़ आई, बोहत प्यार हो रहा है खाला भांजी मे, अब्बू की आवाज़ सुनकर मैं ऐक दम से घबरा गई, दिल मे डर हुआ के कही अब्बू ने हमारी बाते सुन ना ली हो, खाला ने मुझे अलग किया और अब्बू से बोली, भाई साहिब क्या गाज़ल मेरी बेटी नही? किया मैं ऐसे प्यार नही कर सकती? अब्बू भी मुस्करा कर बोले, हा हा क्यूँ नही गाज़ल आप ही की तो बेटी है, भला मैं कोन होता हूँ मा बेटी के प्यार के बीच मे आने वाला



. खाला कहने लगी, भाई साहिब आज से नरेन बेटी अपने घर की होगई है और मेरा घर बोहत सूना होजायेगा , इस लिए मैं गाज़ल को अभी जाने नही दूँगी. अब्बू बोले, हा हा क्यूँ नही मुझे क्या अतराज़ हो सकता है, आप जीतने दिन चाहे गाज़ल को अपने पास रखे. फिर ऐसे ही कुछ और बाते चलती रही और मैं ने सूख का सांस लिया. रुखसती के बाद जब हम घर पहुचे तो रात के 3 बज गये थे, कामी तो वैसे ही नींद मे डूब रहा था इस लिए वो तो फॉरन ही सोगया, घर मे अभी कुछ और मेहमान भी थे इस लिए खलू को भी मोका नही मिला के वो मुझे चोद सकते. दोसरा दिन भी मूसरूफ़ गुज़र गया और दिन मे ना ही कामी को कोई मोका मिला और ना ही खलू को, इस दिन भी काफ़ी मासरॉफियत रही थी इस लिए कामी नींद से नही जीत सका और जल्द ही सोगया, मैं भी बिस्तर पर लेट चुक्की थी और फिर मेरी भी आँख लग गई, रात 3 बजे के बाद किसी ने मुझे झंझोड़ा तो मेरी आँख खोली, मुझे जगाने वाले खलू थे, मैं ने बड़े प्यार से अपनी बाहे उनके गले मे डाल दी, खलू बोले, गाज़ल मेरा बोहत दिल चाह रहा था इस लिए मैं खुद को रोक नही पाया और मैं ने तुम्हे आकर जगा दिया,
Reply

09-16-2017, 10:35 AM,
#10
RE: Muslim Sex Stories खाला के घर में
मैं प्यार से बोली, तो अछा किया ना मेरा भी दिल चाह रहा था, खलू बोले, तो फिर कहा करे सब कमरों मे तो कोई ना कोई है, मैं मुस्करा कर बोली, अरे तो यही चोद डालिए ना मुझे कामी तो बड़ी गहरी नींद सोया हुआ है, खलू मेरी बात पर मुस्कुराए और उन्हो ने झट से मुझे नंगा कर दिया, फिर उन्हो ने अपने भी कपड़े उतार दिए और मेरे साथ ही लेट गए, थोड़ी देर तक हम दोनो ऐक दोसरे को किस करते रहे फिर खलू मेरे उपर 69 पोज़िशन मे लेट गये, अब खलू का लंड तो मेरे मुँह के पास था जब के मेरी चूत से खलू का चेहरा टकरा रहा था. 10 मिनिट तक हम दोनो ने ऐक दोसरे का सक किया, फिर खलू लेट गये और मैं अपनी चूत मे खलू का लंड ले कर उनके उपर बैठ गई, खलू ने नीचे से खूब ज़ोर ज़ोर से झटके मारने शुरू कर दिए, खलू के झटके बोहत ज़ोरदार थे और उनके हर झटके पर मैं पूरी उछल जाती थी, मेरे उछलने से मेरे बड़े बड़े मम्मे बुरी तरहा से हिल रहे थे जिस से मुझे तो माज़ा आही रहा था पर खलू को मुझ से ज़ियदा माज़ा आरहा था, माज़े के आलम मे मेरे मुँह से बे इकतियार सिसकारियाँ निकल रही थी, हम दोनो इस पोज़िशन मे थे के ना तो मैं कामी को देख सकती थी और ना खलू, फिर जब खलू ने मुझे लिटाया और खुद उठ कर बैठे तो उनकी नज़र कामी पर पड़ी जो जाग रहा था, वो लेटा हुआ था और उसने अपना नेकर उतार दिया था, अब उसका 7 इंच लंबा और 2 इंच मोटा लंड पूरी तरहा से आकड़ा हुआ था और वो हमे देखता हुआ अपने लंड को मसल रहा था. पहले तो खलू कामी को जागता हुआ देख कर घबराए फिर उन्हे याद आया के कामी भी मुझे चोद चुक्का है तो वो मुस्करा कर कामी से बोले, बेटा कामी क्या देख रहे हो? अपने बाप को मुस्करता हुआ देख कर कामी की हिम्मत बढ़ी और वो बोला, पापा मैं ये देख रहा था के आप तो खूब माज़े से गाज़ल बाजी को चोद रहे हैं और आप का बेटा यहा अपने लंड को हसरत से सहला रहा है. बाप बेटे के बीच मे मैं ने बोलना मुनासिब नही समझा और मैं चुप ही रही. खलू बोले, तुम हसरत से क्यूँ देख रहे हो आओ और आकर अपने बाप की मदद करो, हम दोनो मिल कर गाज़ल को चोदेन्गे. खलू की बात सुनकर कामी झट से अपने बिस्तर से उतरा, उसने जल्दी से अपने कपड़े उतारे और मेरे बेड पर चढ़ गया, खलू फिर मुझे अपने उपर लेकर लेट गये, उनका लंड अभी तक मेरी चूत मे था, फिर खलू कामी से बोले, बेटा तुम अपना लंड गाज़ल की गंद मे डाल कर इस के उपर लेट जाओ, मैं खलू के उपर लेट गई और कामी अपना लंड मेरी गंद मे डाल कर मेरे उपर लेट गया, अब मैं दोनो बाप बेटे के बीच मे सॅंडविच बन गई थी, फिर दोनो बाप बेटे ने ऐक साथ झटके मारने शुरू कर दिए, बोहत दिनो बाद मुझे दोनो सोराखों से ऐक साथ चुदवाने का मोका मिला था इस लिए मैं खूब माज़ा लेने लगी, दोनो बाप बेटे जानूनी बने हुए कुत्तों की तरहा चोद रहे थे, बोहत दिनो बाद मुझे ऐसी चुदाई नसीब हुई थी इस लिए खूब माज़े के आलम मे सिसकारियाँ लेने लगी. दोनो बाप बेटे ने मुझे सुबह 6 बजे तक चोदा और खलू तो अपने कमरे मे चले गये जब के कामी मुझ से लिपट कर ही सोगया, हम दोनो नंगे ही सोगये थे. सुबह 9 बजे के करीब किसी ने हम दोनो को झंझोर कर उठा दिया, हम दोनो घबरा कर उठ गये, हमे उठाने वाली खाला थी, कामी की तो रूह ही फ़ना होगई अपनी मा को देख कर, खाला गुस्से से मुझ से बोली, गाज़ल ऐसी भी किया बेशर्मी रात मे तुम ने अपनी तसल्ली करी तो कम आज़ कम कपड़े तो पहन कर सोती कोई और कमरे मे आजाता तो, और तुम ने ये लत कामी को भी लगा दी, अभी इस की उमर ही किया है, कामी जल्दी से उठा और अपने कपड़े उठा कर बाथरूम मे भाग गया, मैं अपना सिर झुका कर बोली, वो खाला जान रात 3 बजे के बाद खलू कमरे मे आय थे और फिर जब वो मुझे चोद रहे थे तो कामी उठ गया, फिर खलू ने कामी को भी अपने साथ मिला लिया और दोनो ने मुझे सुबह 6 बजे तक कुत्तों की तरहा चोदा, मैं चुदाई के बाद इतनी थक चुक्की थी के कपड़े पहने बगैर ही सोगाई, मेरी बात सुनकर खाला ने अपने माथे पर हाथ मारा और बोली, ये नरेन के अब्बा पता नही कब सुधरेंगे , अभी बेटा सही से जवान भी नही हुआ और उसको चुदाई पर लगा दिया, मैं बोली, खाला आप कामी की उमर पर ना जाए उसका लंड इस उमर मे भी 7 इंच लंबा है और वो जब चोद्ता है तो चीखे निकाल देता है. खाला ने ऐक दो हत्टर्ड मेरे सिर पर मारा और तिनक कर बोली, तू चुप कर बेशरम, केसे माज़े ले ले कर अपनी चुदाई की बातै कर रही है, मैं हँसी और उठ कर खाला से लिपट गई और बोली, मेरी अछी खाला गुस्सा क्यूँ करती हो, कामी ने आज नही तो कल किसी ना किसी को तो चोदना ही था ना, अछा हुआ जो उसने मुझे चोद लिया, अछा है घर की बात घर मे रह गई, ये बात बाहर निकलती तो बड़ी बदनामी होती, खाला ने फिर तिनक कर मुझे कोसा, हा हा तू तो उसकी तरफ दारी करे गी, ऐक साथ दो दो लंड जो मिल रहे हैं, मैं फिर उनसे चिपटाते हुई बोली, तो इस मे बुराई किया है. अभी हमारी ये बातै चल ही रही थी के कमरे का दरवाज़ा खुला तो हम दोनो ने चोंक कर दरवाज़े की तरफ देखा, मैं अभी तक नंगी थी, आने वाले खलू थे,
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up XXX Kahani नागिन के कारनामें (इच्छाधारी नागिन ) desiaks 63 3,311 11 hours ago
Last Post: desiaks
  Free Sex Kahani काला इश्क़! kw8890 156 397,402 12-06-2021, 02:26 AM
Last Post: Babasexyhai
Star Free Sex Kahani लंसंस्कारी परिवार की बेशर्म रंडियां desiaks 53 465,497 12-05-2021, 06:02 PM
Last Post: kotaacc
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 244 1,198,111 12-04-2021, 02:43 PM
Last Post: Kprkpr
Star Porn Sex Kahani पापी परिवार sexstories 352 1,395,834 11-26-2021, 04:17 PM
Last Post: Burchatu
  Antarvasnasex मेरे पति और उनका परिवार sexstories 5 78,131 11-25-2021, 08:48 PM
Last Post: Burchatu
Star Desi Porn Stories बीबी की चाहत desiaks 89 404,269 11-22-2021, 03:55 AM
Last Post: [email protected]
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 125 1,046,939 11-21-2021, 10:48 AM
Last Post: deeppreeti
  Chudai Kahani मैं उन्हें भइया बोलती हूँ sexstories 7 66,808 11-16-2021, 04:26 PM
Last Post: Burchatu
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 283 1,190,912 11-15-2021, 12:59 AM
Last Post: Nil123



Users browsing this thread: 15 Guest(s)