Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
07-12-2021, 06:14 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 6 - पांचवा दिन

चंद्रमा आराधना

Update -01


गुरु जी : मंजू लाए हो?

मीनाक्षी: जी गुरु-जी।

उसने हाथ में लाल रंग के दो गोल कागज दिखाए । मुझे बहुत उत्सुकता हुई क्योंकि मैंने देखा कि वह उन गोल कागज़ों को फोरसेप से पकड़े हुए थी!

गुरु जी : ठीक है। फिर हम लॉन में जा रहे हैं और आपलोग ज्यादा समय बर्बाद न करते हुए जल्दी से वहां आ जाईये ।

यह कहकर गुरुजी और संजीव मेरे को मीनाक्षी के साथ कमरे में छोड़कर कमरे से निकल गए।

मैं: वो मीनाक्षी क्या हैं?

मीनाक्षी: ये आपके लिए और टैग हैं मैडम।

मैं: और अधिक टैग? किस लिए?

मीनाक्षी : महोदया, जैसा आपने भी सुना, गुरु जी ने कहा कि समय बर्बाद मत करो; अगर हमें देर हो गई तो वह मुझे डांटेंगे ।

मैं: नहीं, वो तो ठीक है, लेकिन आप तब तक बात कर सकते हैं?

मीनाक्षी: ठीक है मैडम। क्या मैं इसे यहाँ लगा दू या आप शौचालय जाना चाहेंगी ?

मैं: मतलब?

मैं उसके शौचालय जाने के सुझाव से चकित थी ।

मीनाक्षी: महोदया, जैसा कि मैंने पहले आपके शरीर पर टैग लगाये थे, दो और बचे हैं, जिन्हें मैं अब लगा दूंगी।

मैं: लेकिन आपने पहले ही मेरे शरीर के ऊपर टैग लगा दिए हैं? मेरा मतलब मेरे स्तनों पर है और? मेरा मतलब?

मैं इतना बेशर्म नहीं थी जो किसी अन्य महिला की उपस्थिति में, उस चूत शब्द को मौखिक रूप से बोलती

मीनाक्षी : ठीक है मैडम, लेकिन ये दोनों आपकी गांड के लिए हैं। आप टैग्स के कागजो का आकार देख लीजिये । ये पिछले वाले की तुलना में बहुत बड़े हैं।

मैं बस यह सुनकर गूंगी हो गयी थी ? मतलब मीनाक्षी उन दो कागज़ों को मेरी गांड पर चिपकाने जा रही है, ठीक मेरे दोनों नितम्बो के गालों पर!

मैं: लेकिन? लेकिन तुमने मेरे स्नान के बाद इन्हें क्यों नहीं लगाया ?

मीनाक्षी: महोदया, मैंने तुमसे कहा था कि हर क्रिया का एक कारण और उचित समय होता है और आप इसे समय आने पर जान पाएंगी ।

मैं उसकी बातो से और भ्रमित हो गयी थी

मैं: लेकिन? लेकिन मीनाक्षी तुम उस फोरसेप के साथ क्यों पकड़े हुए हो?

मीनाक्षी मुझ पर शरारती अंदाज से मुस्कुराई।

मैं: क्या हुआ? मीनाक्षी तुम क्यु मुस्कुरा रहे हो?

मीनाक्षी: जैसे ही मैं इसे आपके नितम्बो पर पर रखूंगी, आप खुद को जान जाएंगी ।

वह फिर मुस्कुराई। मुझे अभी भी समझ में नहीं आ रहा था कि वह उन दो कागजों को फोरसेप में क्यों पकड़े हुए थी।

मीनाक्षी: महोदया, यदि आप अपनी स्कर्ट ऊपर उठा ले तो मुझे मदद मिलेगी क्योंकि मेरे हाथ खाली नहीं है ।

मैंने अपनी पीठ उसकी ओर कर ली और धीरे से अपनी स्कर्ट को पीछे से ऊपर खींच लिया। यह बहुत अजीब था, लेकिन भगवान का शुक्र है कि मुझे एक महिला के सामने ऐसा करना पड़ा।

मीनाक्षी: ठीक है मैडम, अब आगे ।

मैं: मुझे और क्या करने की ज़रूरत है? मैंने अपनी स्कर्ट उठा तो ली है ना?

मीनाक्षी: आपकी पैंटी मैडम।

मैं: उफ़! मैं पूरी तरह से भूल गयी थी ।

मैं इस तथ्य को बिलकुल भूल गयी कि मुझे अपनी पैंटी नीचे खींचनी है ताकि वह उन कागजों को मेरे नितम्बो के गालों पर चिपका सके। यह जानते ही मैंने जल्दी से अपनी पैंटी नीचे खींच ली और अपनी गांड उसके सामने कर दी। मेरी संवेदना अब अजीब से कामुकता में बदल चुकी थी। मैं अपनी पैंटी के साथ कमरे में अपने घुटनो को आधा नीचे करके खड़ी थी और मैंने इसके अलावा, अपनी स्कर्ट को अपनी कमर के स्तर पर पकडा हुआ था और कमरे का दरवाजा भी बंद नहीं था!

मैंने अपने खूबसूरत नितंबों की चिकनाई और गोलाकार महसूस करते हुए मीनाक्षी के मुक्त हाथ को महसूस किया ।

मैं: अरे मिनाक्षी ये क्या कर रही हो?

सच कहूं तो मुझे पहले से ही कुछ होने लगा था, क्योंकि मैंने उसका हाथ अपनी नग्न नितम्ब की त्वचा पर महसूस किया था।

मीनाक्षी: सच कहूं तो मैडम, आपके पास इतनी प्यारी सी मस्त गांड है। यह इतनी गोल, इतनी मांसल, और इतनी कड़ी है। जिसे देख मैं सोचती हूँ ? काश मैं पुरुष होता।

मैं: धात! कैसी बात करती हो तुम मिनाक्षी

वह खिलखिला पड़ी और मैं उसकी तारीफ सुनकर शरमा गई।

मैं: आउच!

मैं लगभग चिल्लाने लगी क्योंकि मुझे लगा कि मेरे नितम्ब की त्वचा कुछ बहुत गर्म छु रहा है। मैं तुरंत पीछे मुड़ी । मैंने अपना संतुलन लगभग खो दिया क्योंकि मैं भूल गयी थी कि मेरी पैंटी आधी नीचे थी और मेरी ऊपरी जांघों से चिपकी हुई थी।

मैं: हे भगवान! ये क्या किया तुमने मिनाक्षी ?

मीनाक्षी : कुछ नहीं मैडम। मैंने अभी इस कागज को आपके नितम्बो की त्वचा से छुआया है। मुझे आशा है कि अब आप समझ गयी होंगी कि मैं फोरसेप का उपयोग क्यों कर रही हूँ।

मैं: लेकिन? लेकिन पेपर इतना गर्म कैसे हो सकता है?

मीनाक्षी: यह आपकी चंद्रमा आराधना के लिए विशेष रूप से गर्म किया गया है।

वह फिर सांस लेने के लिए रुक गई।

मीनाक्षी: ठीक है मैडम, चलिए इसे दूसरे तरीके से करते हैं मैडम।

मैं कैसे? लेकिन किसी भी हाल में पेपर बहुत गर्म है।

मीनाक्षी: महोदया, अपनी पैंटी ऊपर खींचो और मैं पहले तुम्हारी पैंटी के ऊपर तुम्हारे नितम्ब के गालो पर कागज दबा दूंगी।

मुझे लगा कि इससे निश्चित रूप से मेरी मदद होगी । मैंने अपने नितंबों को ढँकने के लिए जल्दी से अपनी पैंटी ऊपर खींची और अपने दोनों हाथों का इस्तेमाल करके पेंटी को अपने उभरे हुए नितम्बो की त्वचा पर फैलाया। तब मैंने महसूस किया कि मीनाक्षी मेरी पैंटी के ऊपर मेरी गांड पर कागज़ दबाने लगी जिससे कागज़ की गर्मी सहने योग्य हो गयी । उसने फोरसेप को एक ट्रे पर रखा और कागजों को अपनी हथेलियों से मेरे गोल नितंबों पर दबा दिया। गर्म गर्म कागज़ को नितम्बो पर लगाना मेरे लिए एक अनूठा अनुभव था ।

कुछ सेकंड बीत गए और मैं चुपचाप मेरे नितम्बो पर गर्म कागजो को महसूस कर रही थी और कागजो की गर्मी तेजी से मेरी पैंटी और नितम्बो को गर्म कर रही थी

मीनाक्षी: महोदया, अब आप अपनी पैंटी नीचे खींच सकती हैं और मैं कागज़ अंदर रख देती हूँ।

ईमानदारी से कहूं तो यह मेरी अब तक की सबसे अजीब एक्सरसाइज थी। इतने कम समय में मुझे अपनी पैंटी को कई बार ऊपर-नीचे करना पड़ा। शायद ही मुझे कोई ऐसा मामला याद हो जहां मैंने इतनी शरारती एक्सरसाइज की हो। मेरे पति के साथ यह मेरी पैंटी के लिए हमेशा नीचे की ओर की यात्रा रही है, वैसे भी अगर मेरी पेंटी मेचिकने रे नितम्बो से थोड़ा सा भी नीचे को फिसलती है, तो यह फिर ऊपर नहीं जा सकती, यह केवल मेरे घुटनों तक ही उतर सकती है।

इससे पहले कि मीनाक्षी मेरे नितंबों पर गोल लाल रंग के कागज़ चिपकाए, उसने मेरे नग्न नितम्बो के गालों पर चिपकाने वाला तरल पदार्थ लगाया और कागज़ आसानी से मेरी पैंटी के नीचे मेरे नितम्बो के गालो पर लग गए। अब मैं सचमुच अपने नितम्बो और गांड पर गर्मी महसूस कर रही थी जो उन लाल कागज़ों से निकल रही है। मैंने अपने बड़े-बड़े नितम्बो को ढकने के लिए तुरंत अपनी उठी हुयी स्कर्ट को नीचे किया।

इस समय ऐसा लग रहा था की जैसे मेरे अंडरगारमेंट के भीतर मेरे नग्न नितम्बो के मांस को किसी मर्द के गर्म हाथों से छुआ जा रहा हो !

मैंने आराम महसूस करने के लिए अपनी पैंटी को उन कागज़ों पर थोड़ा समायोजित किया जो मेरी गांड पर चिपके हुए थे और मीनाक्षी को कमरे से बाहर निकाल दिया। वह आश्रम के प्रांगण में गई, जहां गुरुजी, संजीव और उदय सभी हमारी प्रतीक्षा कर रहे थे।

मैं अब इन पुरुषों के सामने एक्सपोज़ करने में काफी एडजस्ट हो चुकी थी। मेरी मिनीस्कर्ट मेरे पैरों टांगो और जांघों को पूरी तरह से उजागर कर रही थी और मेरी चौकोर गर्दन वाला ब्लाउज उदारता से मेरी गहरी दरार और स्तनों को प्रदर्शित कर रहा था।

स्कर्ट से ढँकी गांड की देखते हुए गुरु जी ने मुस्कान के साथ मेरा स्वागत किया। वह इस बात से निश्चित तौर पर अवगत थे कि मेरी पैंटी के अंदर वो गर्म किये हुए कागज लगे हुए थे। और उसकी पुष्टि की गुरूजी के अगले वाकय ने

गुरु-जी: आशा है कि आप असहज नहीं हैं रश्मि ?

मुझे लगा कि सबके सामने यह पूछने की जरूरत नहीं है। मैं शर्म से सिर हिलाया क्योंकि तीनों पुरुष मेरी नितम्बो की सुडौल आकृति को देख रहे थे।

गुरु जी : तो ठीक है। हम पहले चंद्रमा आराधना शुरू करेंगे और फिर दूध सरोवर स्नान के साथ इसका पालन करेंगे।

गुरूजी की बात सुन कर मैं सोचने लगी कि सरोवर आश्रम में किस जगह पर था या है !

तभी मैंने देखा कि उदय और संजीव एक बहुत बड़ा बाथटब ला रहे हैं और उसे आंगन के बीच में रख दिया और एक पाइप लाइन के माध्यम से उसमें पानी भर दिया। फिर उन्होंने टब को उपयुक्त रूप से समायोजित किया ताकि टब के भीतर के पानी में चंद्रमा का स्पष्ट प्रतिबिंब हो। हालांकि उस वक्त आसमान में बादल छाए हुए थे लेकिन चांद साफ देखा जा सकता था।

गुरु-जी: रश्मि , तुम भाग्यशाली हो कि अभी चाँद साफ दिखाई दे रहा है। इसका मतलब है कि शायद चांद भी आपकी दुआओं से खुश है!

वो मुझ पर मुस्कुराए और मैं भी उनपर वापस मुस्कुरा दी ।

टब के क्रिस्टल साफ पानी में चंद्रमा का अद्भुत प्रतिबिंब दिखाई दे रहा था ।

गुरु-जी : रश्मि , जैसा कि आपने पहले स्वयं कुमार साहब के यहाँ देखा है, यह भी एक माध्यमभिमुख पूजा है। मैं स्वयं इस अति महत्वपूर्ण प्रार्थना में माध्यम के रूप में कार्य करूंगा।

मैं: धन्यवाद गुरु जी।

गुरु जी : अब इस पूजा पर पूरा ध्यान लगाओ और चन्द्रमा से तुम्हारी एक ही प्रार्थना होनी चाहिए कि तुम उर्वर बनो। कुछ कम नहीं, कुछ ज्यादा नहीं।

गुरु-जी और मैंने दोनों ने स्वयं को चंद्रमा के प्रतिबिंब की ओर मोड़ लिया और प्रार्थना के लिए अपनी बाहें और हाथ जोड़ लींये । आश्रम के भीतर पूर्ण रूप से पिन ड्रॉप साइलेंस था, जो रात के उस समय काफी स्वाभाविक था।

मैंने अचानक पानी के छींटे सुना और देखा कि गुरु-जी टब के अंदर कदम रख चुके हैं।

गुरु-जी: रश्मि टब में कदम रखो और टब में आ जाओ ।

मैंने देखा कि टब के किनारे काफी ऊंचे थे और मेरे लिए अंदर जाना काफी मुश्किल होने वाला था । गुरु जी को शायद मेरी समस्या का एहसास हो गया था।

गुरु-जी: उदय, उसे एक हाथ का सहारा दो।

उदय मेरे पास आया और मेरी कमर पकड़कर टब के अंदर जाने में मेरी मदद की। मैं किसी तरह से टब के अंदर जाने में कामयाब हुई और इस बीच गुरु जी को मेरी स्कर् के अंदर का दृश्य देखने को मिला , क्योंकि वह पहले से टब के भीतर खड़े थे।

जारी रहेगी
Reply



Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  XXX Kahani एक भाई ऐसा भी sexstories 75 1,358,556 07-27-2021, 03:38 AM
Last Post: hotbaby
  Sex Stories hindi मेरी मौसी और उसकी बेटी सिमरन sexstories 28 224,031 07-27-2021, 03:37 AM
Last Post: hotbaby
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 242 712,158 07-27-2021, 03:36 AM
Last Post: hotbaby
Thumbs Up bahan sex kahani ऋतू दीदी desiaks 103 313,491 07-25-2021, 02:44 AM
Last Post: ig_piyushd
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 282 963,471 07-24-2021, 12:11 PM
Last Post: [email protected]
Thumbs Up Desi Chudai Kahani मकसद desiaks 70 19,686 07-22-2021, 01:27 PM
Last Post: desiaks
Heart मस्तराम की मस्त कहानी का संग्रह hotaks 375 1,087,522 07-22-2021, 01:01 PM
Last Post: desiaks
Heart Antarvasnax शीतल का समर्पण desiaks 69 57,754 07-19-2021, 12:27 PM
Last Post: desiaks
  Sex Kahani मेरी चार ममिया sexstories 14 130,266 07-17-2021, 06:17 PM
Last Post: Romanreign1
Star Desi Sex Kahani दिल दोस्ती और दारू sexstories 159 305,552 07-04-2021, 10:02 PM
Last Post: [email protected]



Users browsing this thread: 16 Guest(s)