Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
05-07-2022, 09:47 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक- नंदू के साथ चौथा दिन

अपडेट-8


पहला चुदाई अनुभव 




सोनिया भाभी ने रजोनिवृति के समय अपने भांजे नंदू के साथ अपनी आपबीती बतानी जारी रखी

जब सोना भाभी ने नन्दू से कहा मैं एक बार फिर चूसूं ? तो नंदू हैरान हो गया

उसने अपनी आँखों से मुझसे सवाल किया क्या? और मैंने अपनी आंखों से लंड की और देख कर उत्तर दिया। उफ्फ … नन्दू का लंड गनगना गया.

मैं (सोनिआ भाभी) उठकर पलंग के किनारे पर बैठ गयी । जब मैंने ऐसा किया तो इस दौरान मैंने शीशे की ओर देखा और बिस्तर पर पूरी तरह से नग्न होकर बैठी हुई मैं बेहद सेक्सी लग रही थी।

नंदू तुरंत बिस्तर से नीचे उतर गया और उसकी अपनी लटकती हुई मर्दानगी मुझे आकर्षित कर रही थी . वो मेरे मुँह के पास अपनी छड़ी ले कर आ गया । उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने खड़े लंड पर रख दिया. मैंने इसे दोनों हाथों से पकड़ लिया और अपने पूरे चेहरे पर छुआया और फिर बिना समय बर्बाद किए उसे बेतहाशा इस तरह चाटने लगी जैसे कि मैंने पहले कभी लंड नहीं देखा हो ! मैंने अपनी जीभ को उ अंदर-बाहर किया और लंडमुंड को चाटा और इस बीच मैंने उसकी आश्चर्यजनक रूप से सख्त गेंदों को सहलाया। मैंने धीरे से उन्हें निचोड़ा तो नंदू सुअर की तरह जोर-जोर से कराहने लगा । मैंने उसके उपकरण को अपने खुले होंठों में ले लिया और उसे अपने होठों के भीतर एक स्टिक आइसक्रीम की तरह धीरे-धीरे, इंच दर इंच ले गयी , अंत में मैंने उसे बेतहाशा चूसना शुरू कर दिया।

नंदू की सांसें तेज हो गईं- आह अह्ह हहह हम्मह उफ्फ!

जब उसका औजार मेरे मुंह के अंदर पूरी तरह से था, तो मुझे लगा कि यह मेरे गले के आधार तक पहुंच गया है और फिर मैं अलग-अलग गति से लंबे डंडे को अंदर और बाहर चूसने लगी । नंदू इतनी जोर से चिल्लाया और कराहने लगा कि मुझे डर लगा कि उसकी चिलाने की आवाज मेरे पड़ोसीयो का ध्यान आकर्षित कर देगी !

वो बोलै - आंह मौसी छोड़ो मुझे उफ्फ … आह क्या कर रही हो, मत करो कुछ हो रहा है मुझे … आह आह आह उफ्फ हिश हिश!

लेकिन मैं चूसती रही

नंदू: नहीं, मौसी, नहीं? अब नहीं ? कृपया मत करो ?

मैंने उसकी एक नहीं सुनी और अपने पलंग के किनारे बैठे उसे चूसती रही । और फिर अचानक उसने जो किया उसने मुझे पूरी तरह से स्तब्ध कर दिया। नंदू ने धक्का देकर अपने लिंग को मेरे मुँह से निकाल लिया और मुझे अचानक रोक दिया, लेकिन यह देखकर कि मैं उसका लंड छोड़ने के मूड में नहीं थी , उसने मुझे मेरे लंबे बाल पकड़ कर लंड से खींच लिया। साथ ही साथ अपने बाएं हाथ से उसने मेरे दाहिने निप्पल को दो अंगुलियों से बहुत कसकर दबाया और मेरे बालों और मेरे निप्पल दोनों पर उसकी कार्रवाई इतनी तेज थी कि मैं दर्द में रो पड़ी ।

नंदू : उफ्फ! बस मौसी मुझे छोड़ दो!

वह अभी भी मेरे बालों को पकड़े हुए था और मुझे रोकने का प्रयास रहा था।

नंदू: मौसी प्लीज रुको आपजाती हो हैं कि अगर आप ऐसा करती रही तो मैं विस्फोट कर दूंगा!

मुझे लगा मैंने होश संभाला, मेरी आंखों में आंसू आ गए और मुझे अपने दाहिने निप्पल में अत्यधिक दर्द महसूस हुआ। मैंने अपना नियंत्रण खो दिया और सीधे उसे थप्पड़ मार दिया।

मैं: उफ्फ! कमीने! देखो तुमने क्या किया है !

उसने मेरे दाहिने स्तन की और नीचे देखा और पाया कि निप्पल पहले से ही सूजा हुआ था और मुझे वहाँ बहुत तेज़ दर्द हो रहा था और लाल हो गया था जो उसके तेज नाखून से लगी खरोंच के कारण छिल गया था । नंदू तुरंत माफी मांगने के मूड में आ गया और उसने मेरे बाल छोड़ दिए।

मैं: तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मुझे मेरे बालों से पकड़ने की! तुम्हारे मौसा-जी ने अपने पूरे जीवन में कभी भी मुझ पर नियंत्रण करने की हिम्मत नहीं की? मूर्ख ? तुमने मुझे मेरे बालों से पकडने की हिम्मत कैसे की? तुम क्या सोचते हो? चूँकि मैंने तुम्हारे सामने अपनी साड़ी खोली है, तुम जो चाहो कर सकते हो!

नंदू: सॉरी मौसी?. मुझे सच में खेद है। मेरा मतलब आपको चोट पहुँचाना नहीं था? कृपया मुझे क्षमा करें मौसी। बस हो गया मेंरे जान बूझ कर ऐसा नहीं किया था . सॉरी मौसी?

यह कहते हुए कि नंदू जल्दी से मेरे ब्रेस्ट मसाज ऑइंटमेंट की बोतल से कुछ मलहम ले आया और मेरे दाहिने निप्पल पर लगा दी । जैसे ही उसने मेरे निप्पल को मरहम से सहलाया, मैंने उसका कान कसकर पकड़ लिया और उसे आज्ञा दी:

नंदू ! अब मुझे चोदो । अभी। क्या तुम मेरी बात समझ रहे हैं!

नंदू: लेकिन मौसी? मेरा मतलब है? ओह्ह्ह ?

मैं: तुम क्या बुदबुदा रहे हो, बदमाश?

नंदू: मौसी!, मेरा मतलब है कि मैंने कभी किसी लड़की की चुदाई नहीं की?

क्या ईमानदार स्वीकारोक्ति है!

इससे पहले कि वह ठीक से प्रतिक्रिया दे पाता, मैंने उसे अपने पास खींचा और गले से लगा लिया और बिस्तर पर ले जाकर उसे अपने शरीर के ऊपर लेटा दिया। पहली बार मैंने उसके होठों को अपने होंठो के अंदर दबा लिया और उसे गहरा चूमा। बदले में नंदू ने भी मुझे चूमा, लेकिन निश्चित रूप से वो अभी काफी बचकाना था । मैंने बार-बार उसके होठों को चूसा और अपनी जीभ को उसके मुँह के अंदर झाँका और उसकी जीभ को भी चूसा। मेरे पति के साथ मुझे वास्तव में यह अवसर नहीं मिलता है क्योंकि जब वह मुझे चूमते हैं तो वह मुख्य भूमिका निभाते हैं और ज्यादातर बार मैं बस लेटी रहती हूँ क्योंकि वह एक साथ मेरे स्तन को निचोड़ते हैं या मेरी गांड पकड़ लेते हैं।

लेकिन यहां नंदू एक नौसिखिया होने के नाते मैं उसे लंबे समय तक चूमने में सक्षम थी और मैंने वास्तव में इसका आनंद लिया। फिर मैंने उसका इरेक्ट औजार पकड़ा और उसे अपने लवस्पॉट में गाइड किया। मैं महसूस कर सकता थी कि एक तेज गति में उसकी छड़ी मेरे अंदर प्रवेश कर गहरी चली गई । यद्यपि मेरी योनि उतना गीली नहीं थी जितनी कि किसी अन्य सामान्य महिला की ऐसे मौके पर हो जाती है , नंदू का युवा और कठोर लंड मेरे छेद में अंदर जाने और बाहर निकलने में पूर्णतया सक्षम था। और एक बार अंदर जाने के बाद, उसने मुझे चोदना शुरू कर दिया।

कुछ चीजे स्वाभिक होती हुई और उन्हें बताना नहीं पड़ता . उसकी कमर और नितम्ब हिलने लगे .


उसका लंड मेरी फिसलन भरी चूत में आधा अंदर चला गया और अगले जोरदार धमाके में उसने पूरी तरह से अपना रास्ता बना लिया। नंदू ने मेरे दोनों स्तनों को पकड़ा और उन्हें निचोड़ा और मेरे निपल्स को बारी-बारी से घुमाया, जबकि इस बीच उसने अपने उपकरण को लयबद्ध तरीके से अंदर और बाहर घुमाया।

अठारह वर्ष के ग्यारहवीं कक्षा में पढ़ रहे इस युवा लड़के ने मुझे चोदना शुरू दिया था, मैं बेशर्मी से खुशी के साथ जोर-जोर से कराह रही थी । उसने अपने उपकरण को अंदर और बाहर, तेज और धीमी, तेज और धीमी गति से धक्के दिए , जबकि उसके हाथ एक पल के लिए भी स्थिर नहीं थे, या तो मेरे स्तनों के साथ खेल रहे थे, या उन्हें निचोड़ रहे थे, या मेरे तंग निपल्स को घुमा रहे थे, या मेरी नाभि को छू रहे थे। मैं अपनी पूरी तेज आवाज के साथ चिल्ला रही थी मेरे गालो पर खुशी के आंसू बह रहे थे क्योंकि मेरे पति से इस तरह मेरी जरूरतों को नजरंअदाज करने के कारण मैं तड़प रही थी और इतने दिनों के बाद मैंने अपने अंदर उत्तेजना को बढ़ते हुए और उत्कर्ष को बनते हुए महसूस किया?

मैं: आआ? आआ? आआ?. रुको मत तेज करो करो नंदू?. बस रुको मत !
मैं: आह उह्ह्ह उउउउ उउउइइइइइइइ। तेज करो करो नंदू? आह उह्ह्ह उउउउ!

मैं जोर-जोर से कराहती रही क्योंकि जब वह हर बार मेरे अंदर घुसा करता था तो लंड मेरी योनि को भर देता था । मेरी योनि की मांसपेशियां उसके लंड को ऐंठने की कोशिश कर रही थीं, लेकिन दुर्भाग्य से मेरा रास्ता उसके दुबले-पतले आकार के लंड के लिए बहुत चौड़ा था। चूँकि मेरी शादी को इतने लंबे समय हो गए थे और मनोहर के साथ वर्षों से संभोग कर रहे थे और मेरी बेटी के जनम के बाद से , मेरी योनि का मार्ग चौड़ा हो गया था और वहाँ की मांसपेशियाँ ढीली हो गई थीं; तो निश्चित रूप से मुझे नंदू के युवा लंड के साथ वह तंग महसूस नहीं हो रहा था, लेकिन फिर भी यह एक बहुत ही आंनद दायक अनुभव था। नंदू ने भी उस दर्द को महसूस नहीं किया, जो उसे आमतौर पर एक कुंवारी लड़की को चोदने में मिलता । फिर भी उसके चेहरे से लग रहा था कि वह अपनी गतिविधियों में लीन है और मजे कर रहा है । मैंने महसूस किया कि एक पल के लिए मेरा पूरा शरीर अकड़ गया है और उसके बाद मैं बहुत हिंसक रूप से कांपने लगी । नंदू के चेहरे की ओर देखते हुए मैं कांपती रही और एक चीख के साथ बेतहाशा चरमोत्कर्ष पर पहुंच गयी ।

मैं: आह उह्ह्ह उउउउ उउउइइइइइइइ।

इस युवा लड़के के लिए और अधिक संभव नहीं था और वो जोर से चिल्लाया और अगले दो झटके के भीतर उसका शरीर धनुष के आकार में झुका और उसने मेरे अंदर विस्फोट कर दिया और मेरी पूरी योनि उसके गर्म रस के साथ भर गई ।

मैं: आ आ आआआआह!

यह बहुत संतोषजनक था! किसी भी विवाहित महिला के लिए चुदाई के अलावा खुद को संतुष्ट करने का अन्य कोई विकल्प नहीं है । मैं महसूस कर सकती थी कि नंदू का लंड मेरी चूत से बाहर निकल रहा है और अपनी लचीला स्थिति खो रहा है। नंदू अब पूरी तरह थक कर मेरे शरीर के ऊपर लेट गया। मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं और इन बहुत ही संतोषजनक पलों को संजोने की कोशिश की, हालाँकि मुझे पर्याप्त डिस्चार्ज नहीं मिला था , जिससे मैं अंदर से अधूरा महसूस कर रही थी।

न जाने कितनी देर मैं आंखें बंद करके ऐसे ही लेटी रही । नंदू मुझसे उतरा और शौचालय में जाकर उसने अपनी सफाई की। मैं अभी भी पूरी तरह से नग्न अवस्था में अपने पैरों को फैला कर अपने बिस्तर पर लेटो हुई थी । मेरी चूत के होंठ और चूत के बाल बेशर्मी से प्रदर्शित थे और नंदू का रस अभी भी मेरी चूत के छेद से निकल रहा था।

नंदू: मौसी, मौसी! उठो और? मेरा मतलब है कुछ पहनो!

मैं: हुह! ओह! हां।

नंदू: मेरा मतलब है कि अगर मौसा-जी वापस आ जाते हैं?

उसके मुंह से मौसा जी शब्द सुनते ही मेरे होश उड़ गए। अनैच्छिक रूप से मेरे दाहिने हाथ ने मेरे नंगे स्तन को ढँक दिया। मैं उठी , हालाँकि अब मेरी चूत में बहुत दर्द हो रहा था। मुझे अपने डॉक्टर की अगले कुछ दिनों तक सेक्स न करने की सलाह याद आ गई, जिसका मैंने आज उल्लंघन किया था । नंदू मेरे पास खड़ा था और मेरी बदरंग हालत का लुत्फ उठा रहा था । पता नहीं क्यों अचानक मुझे शर्म आने लगी; शायद मेरी स्वाभाविक प्रवृत्ति अब मेरे ऊपर नियंत्रण ले रही थी। मैंने अपने लटके हुए आजाद स्तनों को दोनों हाथों से ढँक लिया और खड़ी हो गयी । मैंने बिस्तर के पास शीशे की ओर देखा, और खुद को उस अवस्था में देखकर जोर से शरमा गयी । नंदू शायद मेरी त्वचा के रोमछिद्र भी देख सकता था ! मैं बेशर्मी से नग्न ही शौचालय की ओर चल दी और इस बीच नंदू स्पष्ट रूप से मुझे घूर रहा था। मेरे स्तन हर कदम पर कामुकता से लहरा रहे थे और सोच रही थी कि अपने हाथो से क्या ढकूं? मेरी चूत, या मेरी विशाल गांड, या मेरी जुड़वां स्तनों की बड़ी चोटियाँ!

जारी रहेगी

NOTE





1. अगर कहानी किसी को पसंद नही आये तो मैं उसके लिए माफी चाहता हूँ. ये कहानी पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी से कोई लेना देना नही है . मेरे धर्म या मजहब  अलग  होने का ये अर्थ नहीं लगाए की इसमें किसी धर्म विशेष के गुरुओ पर या धर्म पर  कोई आक्षेप करने का प्रयास किया है , ऐसे स्वयंभू गुरु या बाबा  कही पर भी संभव है  .



2. वैसे तो हर धर्म हर मज़हब मे इस तरह के स्वयंभू देवता बहुत मिल जाएँगे. हर गुरु जी, बाबा  जी  स्वामी, पंडित,  पुजारी, मौलवी या महात्मा एक जैसा नही होते . मैं तो कहता हूँ कि 90-99% स्वामी या गुरु या प्रीस्ट अच्छे होते हैं मगर कुछ खराब भी होते हैं. इन   खराब आदमियों के लिए हम पूरे 100% के बारे मे वैसी ही धारणा बना लेते हैं. और अच्छे लोगो के बारे में हम ज्यादा नहीं सुनते हैं पर बुरे लोगो की बारे में बहुत कुछ सुनने को मिलता है तो लगता है सब बुरे ही होंगे .. पर ऐसा वास्तव में बिलकुल नहीं है.



3.  इस कहानी से स्त्री मन को जितनी अच्छी विवेचना की गयी है वैसी विवेचना और व्याख्या मैंने  अन्यत्र नहीं पढ़ी है  .



4. जब मैंने ये कहानी यहाँ डालनी शुरू की थी तो मैंने भी इसका अधूरा भाग पढ़ा था और मैंने कुछ आगे लिखने का प्रयास किया और बाद में मालूम चला यह कहानी अंग्रेजी में "समितभाई" द्वारा "गुरु जी का (सेक्स) ट्रीटमेंट" शीर्षक से लिखी गई थी और अधूरी छोड़ दी गई थी।


बाद में 2017 में समीर द्वारा हिंदी अनुवाद शुरू किया गया, जिसका शीर्षक था "एक खूबसूरत हाउस वाइफ, गुरुजी के आश्रम में" और लगभग 33% अनुवाद "Xossip" पर किया गया था।

अभी तक की कहानी मुलता उन्ही की कहानी पर आधारित है या उसका अनुवाद है और कुछ हिस्सों का अनुवाद मैंने किया है ।

कहानी काफी लम्बी है और मेरा प्रयास जारी है इसको पूरा करने का।
Reply

05-26-2022, 06:55 AM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक- नंदू के साथ

अपडेट-1






सोनिआ भाभी-भाभी ने रजोनिवृति नन्दू के साथ अपना बताना जारी रखा

पांचवा और छठा दिन

सोनिआ भाभी बोली मैंने नंदू के साथ उस सेक्सी सत्र के बाद खुद को फिर से संगठित करने के लिए समय लिया, नंदू लगभग मेरे बेटे की तरह था। मैं नंदू से आँख नहीं मिला पा रही थी और मुझे ऐसा लगता था कि हर बार जब वह मुझे देख रहा था, तो जैसे वह मुझे मेरे कपड़ों के माध्यम से नग्न देख रहा था। मैं अपने बेशर्म कृत्यों को भूल नहीं पा रही थी और उसने मुझे एक महत्त्वपूर्ण अवधि के लिए पूरी तरह से उतार-चढ़ाव और काम उत्तेजित स्थिति में देखा थी। सौभाग्य से, आजकल मैं मेरे पति के साथ बिल्कुल बिस्तर पर नहीं मिलती थी और हमारा कोई शारीरिक सम्बन्ध नहीं बनता था, अन्यथा उन्हें यह समझाने में बहुत कठिनआयी होती कि मेरे दाहिने निप्पल पर उस नाखून का निशान कैसे आ गया। मनोहर को कभी भी पता ही नहीं चला कि उसकी पीठ पीछे क्या हो रहा है! उसकी बीवी किस तरह की सेक्स की गतिविधियों में लिप्त है उसे इसकी कोई भनक नहीं हुई थी । वास्तव में जब भी मैं अपने पति की ओर देखती थी तो मैं बहुत दोषी महसूस कर रही थी? नंदू भी अपनी पहली चुदाई की खुशी का अनुभव करने के बाद थोड़ा सयमित लग रहा था।

सातवा दिन

उस दिन शाम नंदू अपने घर के लिए निकलने वाला था और मैं उसे अपने तरीके से अलविदा कहना चाहती थी। लेकिन मुझे मौका नहीं मिल रहा था क्योंकि उस दिन मनोहर घर पर था, परन्तु मुझे बाद में मौका मिला जब वह किसी कारण से थोड़ी देर के लिए बाहर गया। नंदू अपने कमरे में था और मैं वहाँ गयी।

मैं: नंदू!

नंदू: जी हाँ मौसी?

मैंने अपनी सारी ताकत इकट्ठी की और सीधे उसकी आँखों में देखा। नंदू मेरी नजरो का सामना नहीं कर सका और उसने अपनी आँखें नीची कर लीं।

मैं: बेटा, उस दिन जो कुछ भी हुआ वह पूरी तरह से गोपनीय रहना चाहिए। उसे दिमाग़ में रखो। किसी भी परिस्थिति में आप किसी के साथ उस पर चर्चा या साझा नहीं करेंगे। वादा करो?

नंद जी मौसी मैं समझता हूँ। आप मुझ पर भरोसा कर सकती हैं।

मैं: अच्छा। तुम्हारे जाने से पहले?

नंदू: क्या मैं आ सकता हूँ? मेरा मतलब मौसी, क्या मैं एक बार आपके करीब आ सकता हूँ?

मैं: एक मिनट। नंदू तुम भी वादा करो कि यह आखिरी बार होगा और अब से हम अपने पुराने रिश्ते की तरफ लौट आएंगे और मौसी भांजे की तरह ही व्यवहार करेंगे ...

नंदू: ठीक है मौसी, मैं वादा करता हूँ। यह आखिरी बार होगा।

मैंने उसकी आँखों की ओर देखा और उसे अपने पास आने का इशारा किया। सच कहूँ तो मैं भी उसके लौटने से पहले नंदू को एक बार गले लगाना चाहती थी। अगले कुछ मिनटों में हम एक दूसरे की बाहो में थे? नंदू ने मेरे सुडौल शरीर के हर इंच को अपने हाथों से महसूस किया और मैंने भी उसे जोर से चूमा। नंदू के हाथों ने मेरे ब्लाउज से ढके स्तनों को दबाया और निचोड़ा, जब उसके हाथ मेरे बड़े कूल्हों के आकार को महसूस कर रहे थे, मेरे होंठ उसके होठों का स्वाद ले रहे थे; तब मैं भी अपने बड़े स्तन उसकी सपाट छाती पर दबा रही थी फिर उसके हाथ मेरे मांसल कूल्हों पर उसकी गोलाकारता को महसूस कर रहे थे, उसके बाद मेरे हाथों ने उसके पायजामा के नीचे उसका लंड खोजा और उसे सहलाया। चीजें फिर से गर्म हो रही थीं। नंदू को भी शायद एहसास हो गया था और जब वह मेरी साड़ी के ऊपर मेरी गांड थपथपा रहा था तो उसने पाया मैंने नीचे पैंटी नहीं पहनी हुई थी और उसकी अगली हरकत से मेरे दिमाग में खतरे की घंटी बज उठी।

नंदू धीरे-धीरे मेरी साड़ी और पेटीकोट को मेरी टांगों से ऊपर उठा रहा था और मैं स्पष्ट रूप से अपने नग्न नितंबों को सहलाने की उसकी इच्छा को महसूस कर रही थी। हालांकि ईमानदारी से मैं भी इस तरह से छुआ जाना पसंद करती हूँ, लेकिन मुझे रेखा खींचनी थी।

मैं: नंदू! नहीं। ऐसा मत करो। कृपया।

नंदू: मौसी? कृपया। एक आखिरी बार! मैं तुम्हें कल से बिलकुल परेशान नहीं करूंगा!

मैं: नंदू, मुझे पता है कि लेकिन... अरे! नहीं नहीं? विराम!

इससे पहले कि मैं एक त्वरित कार्यवाही में ठीक से प्रतिक्रिया कर पाती, वह मेरी साड़ी और पेटीकोट को मेरी जांघों तक उजागर करने में सक्षम हो गया था। जैसे ही उसके ठंडे हाथों ने मेरी नंगी गर्म जांघों को छुआ, मुझे एहसास हुआ कि मैं कमजोर हो रही हूँ।

मैं: नंदू, प्लीज मत करो। कृपया! आपके मौसा-जी किसी भी क्षण वापस आ सकते हैं।

जब तक मैं वाक्य पूरा कर पाती, मुझे महसूस हुआ कि इस लड़के ने मेरी विशाल गांड को पूरी तरह से खोल दिया है। उसने मेरी साड़ी को मेरी कमर पर अच्छी तरह से ऊपर कर दिया और मेरी कसी हुई गांड को निचोड़ने लगा। मैंने भी बेशर्मी से उसकी हरकतों के आगे घुटने टेक दिए और उसे अपने शरीर से कसकर अपने गले लगा लिया। नंदू ने अब मेरी साड़ी छोड़ दी और उसके हाथ मेरी साड़ी के नीचे मेरी नग्न गांड पर बने रहे। वह मेरी गांड पर चुटकी ले रहा था, मेरे तंग नितम्ब के गालों को दोनों हाथों से दबा रहा था और कुचल रहा था। कुछ क्षण और ऐसा ही चलता रहा और मेरे गाण्ड के दबाव से पूर्णतः संतुष्ट होने के बाद उसने मेरे नितंबों से अपने हाथ निकाल लिए। नंदू उस समय तक काफी उत्तेजित हो गया था क्योंकि उस समय मैं भी उसके पजामे के नीचे उसका कठोर लंड महसूस कर रही थी।

नंदू ने मुझे फिर से गले लगाया और एक कायाकल्प प्रयास के साथ मेरे गालों को चूमना शुरू कर दिया और वह मुझे इतना जोर से धक्का दे रहा था कि मैं अपना संतुलन नहीं रख सकी और मुझे पीछे हटना पड़ा और लगभग अपने बिस्तर पर गिर पड़ी। नंदू ने मुझे वस्तुतः अपने बिस्तर पर धकेल दिया और जैसे ही मैं उस पर बैठी, उसने फटाफट मेरा पल्लू मेरे कंधों से उतार दिया। मैंने उसे सावधान करने की कोशिश की, लेकिन तब तक बहुत देर हो चुकी थी।

मैं: नंदू, अपना व्यवहार संयत करो!

वह अब आदमखोर की तरह था, जिसने एक बार खून का स्वाद चखा था। उसने मेरे जुड़वाँ स्तनों पर छलांग लगा दी और मेरे ब्लाउज और ब्रा पर दोनों हाथों से उन्हें पकड़ लिया। मैं उसकी चालों में अतिरिक्त शक्ति को स्पष्ट रूप से देख सकता था और आज उसकी हरकतें बहुत निश्चित थीं! मैंने उसका हाथ पकड़कर उसे रोकने की कोशिश की, लेकिन उसकी हरकतों से स्पष्ट था कि उसने मुझे निर्वस्त्र करने की ठान ली है।

मैं: रुको! कृपया?

मेरा प्रतिरोध बहुत कमजोर था और वह मेरे तंग स्तनों से मेरे ब्लाउज और ब्रा को खींचने की कोशिश कर रहा था।

मैं: नंदू? नंदू, इस तरह तुम मेरा ब्लाउज फाड़ दोगे!

लेकिन शायद ही मेरी प्रतिक्रियाएँ उस तक पहुँची और यह देखकर कि वह मेरे ब्लाउज के हुक को जल्दी से नहीं खोल पा रहा था, बदमाश ने सीधे मेरे ब्लाउज के अंदर अपना हाथ डाला और मेरे सुस्वादु आम को पकड़ लिया। उसके चेहरे के भाव बदल गए थे और वह बहुत रूखा लग रहा था। हालाँकि मैं अपने आप को उसके चंगुल से छुड़ाने के लिए बहुत संघर्ष कर रही थी, फिर भी वह मेरे ब्लाउज से मेरे बाएँ स्तन को बाहर निकालने में कामयाब रहा! जैसे ही मुझे उसके नग्न स्तन पर उसके हाथ का आभास हुआ, मेरा संघर्ष लगभग खत्म हो गया और उसने उसका पूरा फायदा उठाया और कुछ ही समय उसने मेरे दाहिने स्तन को भी मेरे ब्लाउज के ऊपर खींच लिया। मैं बस एक फूहड़ रंडी की तरह लग रही थी जो बिस्तर के किनारे पर बैठी हो!

एक बार जब वह मेरे दोनों स्तनों को मेरी पोशाक से बाहर कर उजागर करने में सफल हो गया, तो उसने एक राहत ली और मेरी जुड़वां चोटियों पर बहुत आक्रामक तरीके दबाने लगा। उसके स्पर्श से उत्तेजित होने के बावजूद, मैं बहुत अपमानित महसूस कर रही थी और नंदू के इस बलात्कारी जैसे व्यवहार को पचा नहीं सकी और उसे जोर से थप्पड़ मारा।

मैं: आपको क्या लगता है कि आप क्या कर रहे हैं? सुन रहे ही नंदू!

जैसे ही मैंने उसे थप्पड़ मारा और डांटा, तुरंत मैंने अपने स्तनों को अपने हाथों से ढकने की कोशिश की, लेकिन मुझे आश्चर्य हुआ क्योंकि नंदू ने जबरदस्ती मेरी बाहों को पकड़ लिया और मुझे मेरी इच्छा के विरुद्ध बिस्तर पर लेटने के लिए धक्का दिया। कुछ ही दिनों में नंदू एक बदला हुआ इंसान लगने लगा! , उसने न सिर्फ मेरे थप्पड़ को नजरअंदाज किया बल्कि उसने मुझे नीचे गिराने की कोशिश की! उसके चेहरे से मासूमियत पूरी तरह गायब हो गई थी!

मैं: नंदू, तुम हद पार कर रहे हो! यह किस तरह का व्यवहार है?

नंदू ने मुझे जवाब देने की परवाह नहीं की और न ही उसने अपनी भद्दी आक्रामकता को रोका। उसने मेरी बाहों को मजबूती से पकड़ रखा था और मेरे सीने के क्षेत्र को सूँघ रहा था और मेरे खुले निपल्स को चाटने की कोशिश कर रहा था जबकि मैं अपनी गरिमा को बचाने के लिए संघर्ष कर रही थी।

मैं: नंदू, रुको! ये मत करो! आखिर मैं तुम्हारी मौसी हूँ!

नंदू: बस एक बार मौसी? एक आखिरी बार!

मैं: आखिरी बार क्या?

नंदू: मैं मौसी आपको चोदना चाहता हूँ! तुम बहुत सेक्सी हो!

मैं जो भी सुन रही थी उसे सुन मुझे अपने कानों पर विश्वास नहीं हुआ जो! मेरा सिर जैसे घूम रहा था। क्या वह वही मासूम आज्ञाकारी नंदू था जिसके साथ मैंने पिछले कुछ दिनों में खिलवाड़ किया था? मैं इस बात को पचा नहीं पा रही थी कि नंदू जैसा छोटा लड़का मुझ पर अधिकार करने की कोशिश कर रहा था! इससे पहले कि मैं अपने आप को संभल पाती, उसने मेरी फैली हुई भुजाओं को एक हाथ में पकड़ लिया और अपना खाली हाथ मेरी कमर की ओर ले लिया और मेरी साड़ी को मेरे पैरों के ऊपर खींचने लगा। उस समय मेरी भावना बहुत अजीब और मिश्रित थी? यह मेरी यौन इच्छा और मेरे स्वाभिमान को बचाने के मिश्रण से मिली हुई अजीब स्थिति थी। यह मुझे मेरे ही घर में छेड़छाड़ करने जैसा था!

मैं: नंदू? कृपया मत करो! नहीं? नहीं? इसे रोको!


जारी रहेगी
Reply
05-26-2022, 06:58 AM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक- नंदू के साथ सातवा दिन

अपडेट-2



नंदू के साथ सातवा दिन




सोनिआ भाभी ने रजोनिवृति के बाद अपने बहनाजे नंदू के साथ अपनी कहानी सुननी जारी राखी

सोनिआ भाभी बोली मैं नंदू को बोली-नंदू... प्लीज मत करो। नहीं... नहीं ... इसे रोको। प्लीज रुक जाओ

मैंने चिल्लायी लेकिन कोई असर नहीं हुआ। मैं उठने के लिए संघर्ष कर रही थी क्योंकि वह मेरे ऊपर था इसलिए मेरी स्थिति बहुत कमजोर थी और नंदू पूरी तरह से मेरे ऊपर था। नंदू ने मेरे हाथ छोड़े और मेरे सिर को वापस बिस्तर पर रख दिया और मेरे होठों को चूमने की कोशिश की। मैं अब उससे बचने की पूरी कोशिश कर रही थी, लेकिन उसने अचानक मेरे कड़े सूजे हुए दाहिने निप्पल को इतनी जोर से घुमाया कि मैं चीख पड़ी और वह इस मौके का फायदा उठाने के लिए काफी होशियार था और अपने दांतों को मेरे निचले होंठों में दबा दिया। उसकी इस दोहरी हरकत से मुझे काफी उत्तेजित कर दिया और अपने दूसरे हाथ से मेरे बाएँ स्तन को पकड़ लिया, तो मैं जो संघर्ष कर रहा था, उसे बनाए रखना मुश्किल था।

मैं-उह्ह्ह आआआआआआ:

मैं परमानंद की आह भर रहा था, हालांकि मैं अभी भी नंदू के असभ्य व्यवहार से बहुत आहत थी।

नंदू-हे मौसी... तुम कितने स्वीट हो। आह।

यह महसूस करते हुए कि मैंने उसके अश्लील स्पर्शों पर कामुक प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया था, उसने नग्न स्तनों की मालिश करना शुरू कर दिया और मेरे काले निपल्स को अपनी उंगलियों से बार-बार घुमाया। साथ ही वह मेरी साड़ी के ऊपर अपना सीधा और कड़ा औजार मेरी चूत पर दबा रहा था।

नंदू-सॉरी मौसी, पर तुम्हे देखकर मैं खुद को काबू में नहीं रख पाया। तुम दुनिया की सबसे सेक्सी महिला हो मौसी... क्या तुम अब भी मुझसे नाराज़ हो?

उसने मेरे मोटे गाल को चूमा और सीधे मेरी आँखों में देखा। मैं अब उनका "सॉरी" सुनकर थोड़ा नरम हो गयी थी और उनके प्यार भरे स्पर्शों का आनंद लेने लगी थी।

मुझे याद आया की जब मेरी नई-नई शादी हुई थी और मैंने पहले बार मनोहर के साथ सेक्स किया था । तो उसके बाद मनोहर भी मुझे छोड़ता ही नहीं था और जब भी उसे मौका मिलता तो मेरे स्तन दबा देता था या चूम लेता था । यह कभी भी कहीं पर भी मुंडका मिलते ही सेक्स शुरू कर देते थे । अब नंदू का भयउ लगभग वैसा ही हाल था । पहले सेक्स के बाद इसे दूबरा करने की इच्छा बढ़ ही जाती है और साथ में मैं नंदू से पानी तारीफ सुन कर भी कझूश थी की मैं आज भी किसी तरुण लड़के को यौन उत्तेजित कर सकती हूँ ।

नंदू-मौसी जरा देखिये... ये अब ज्यादा देर और इंतजार नहीं कर सकता।

यह कहते हुए कि उसने मेरी चूत के हिस्से को अपने क्रॉच से दबाया, जिससे मुझे उसका सख्त लंड वहाँ महसूस हुआ।

मैं-हुह।

मैंने यह दिखाने की कोशिश की कि मैं अभी भी गुस्से में थी, लेकिन फिर अगले ही पल उसने जो किया मुझे उसकी बिलकुल भी उम्मीद नहीं थी। नंदू ने अचानक मुझे छोड़ दिया और मेरे शरीर से उतर गया और एक तेज कार्यवाही करते हुए उसने अपनी पायजामा की डोरी खोली और अपना गर्म लंड निकाल कर मेरे मुंह के ठीक सामने रख दिया। किसी भी विवाहित महिला की तरह, मैं उसके खड़े उपकरण को देखकर खुद का रोक नहीं स्की और सब कुछ भूलकर तुरंत उसे पकड़ लिया।

मैं-उल्स। उल्स। छ्ह एच। उम्म्म... ...

मैं हर तरह की सेक्सी आवाजें पैदा कर रही थी क्योंकि मैंने बिस्तर पर लेटे हुए उसके डिक को चूसा। नन्दू भी अपनी आँखें बंद करके खूब आनंद ले रहा था।

अचानक

"डिंग डाँग।" "डिंग डाँग।"

दरवाजे की घंटी बज रही थी। क्या मनोहर वापस आ गया था? लेकिन ऐसा संभव नहीं था क्योंकि उसे कम से कम आधे घंटे से लेकर 45 मिनट तक का समय लेना चाहिए। या यह कोई और था? हम दोनों जल्दी से उठे और कपडे ठीक कर सामान्य लगने की कोशिश की। मैंने अपने पैरों और स्तनों को ढकने के लिए अपनी साड़ी नीचे खींची और नंदू अपना पायजामा बाँधने में व्यस्त था। नंदू झट से खिड़की के पास गया और बगल से देखने की कोशिश की कि दरवाजे पर कौन है।

नंदू-मौसी, मौसा-जी।

मैं-हे भगवान। क्या करें?

नंदू-मौसी घबराओ मत। मैं दरवाजा खोलता हूँ और तुम शौचालय जाओ और कपड़े पहनो।

मैं ठीक है नंदू ।

मैं लगभग अपने कमरे में भाग कर शौचालय के अंदर पहुँच गयी मेरे स्तन अभी भी मेरे ब्लाउज और ब्रा से बाहर थे। मैंने नंदू को दरवाजा खोलते सुना। मनोहर के पास जल्दी वापस आने के कुछ कारण थे और वह वास्तव में ये मेरा बहुत नजदीकी से हुआ संकीर्ण पलायन था जिसमे मैं बच गयी। शाम को नंदू चला गया और मनोहर के साथ स्टेशन के लिए ऑटो-रिक्शा में जाने से पहले मैंने उसे बहुत सामान्य रूप से गले लगाया (क्योंकि मेरे पति वहाँ मौजूद थे) । ये मेरी बहन के बेटे नंदू के साथ मेरे सेक्सी कारनामे का अंत था।

#### << नंदू के साथ सोनिआ भाबी की कहानी यहाँ समाप्त हुई >>



सोनिआ भाबी खाली छत पर देख रही थी। मैं उसकी मानसिक स्थिति को समझ सकती था और मैंने धीरे से उनका हाथ पकड़ लिया। वह मुझ पर शुष्क रूप से मुस्कुराई और एक गहरी आह के साथ अपना पेय समाप्त किया। मैंने पुरुषो को बालकनी में हमारे पास आते हुए सुना और भाबी को सतर्क कर दिया। पल भर में मनोहर अंकल, राजेश और रितेश होटल के बरामदे में अपनी-अपनी शराब के गिलास साथ हमारे पास दिखाई दिए।



जारी रहेगी


NOTE





1. अगर कहानी किसी को पसंद नही आये तो मैं उसके लिए माफी चाहता हूँ. ये कहानी पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी से कोई लेना देना नही है . मेरे धर्म या मजहब  अलग  होने का ये अर्थ नहीं लगाए की इसमें किसी धर्म विशेष के गुरुओ पर या धर्म पर  कोई आक्षेप करने का प्रयास किया है , ऐसे स्वयंभू गुरु या बाबा  कही पर भी संभव है  .



2. वैसे तो हर धर्म हर मज़हब मे इस तरह के स्वयंभू देवता बहुत मिल जाएँगे. हर गुरु जी, बाबा  जी  स्वामी, पंडित,  पुजारी, मौलवी या महात्मा एक जैसा नही होते . मैं तो कहता हूँ कि 90-99% स्वामी या गुरु या प्रीस्ट अच्छे होते हैं मगर कुछ खराब भी होते हैं. इन   खराब आदमियों के लिए हम पूरे 100% के बारे मे वैसी ही धारणा बना लेते हैं. और अच्छे लोगो के बारे में हम ज्यादा नहीं सुनते हैं पर बुरे लोगो की बारे में बहुत कुछ सुनने को मिलता है तो लगता है सब बुरे ही होंगे .. पर ऐसा वास्तव में बिलकुल नहीं है.



3.  इस कहानी से स्त्री मन को जितनी अच्छी विवेचना की गयी है वैसी विवेचना और व्याख्या मैंने  अन्यत्र नहीं पढ़ी है  .



4. जब मैंने ये कहानी यहाँ डालनी शुरू की थी तो मैंने भी इसका अधूरा भाग पढ़ा था और मैंने कुछ आगे लिखने का प्रयास किया और बाद में मालूम चला यह कहानी अंग्रेजी में "समितभाई" द्वारा "गुरु जी का (सेक्स) ट्रीटमेंट" शीर्षक से लिखी गई थी और अधूरी छोड़ दी गई थी।


बाद में 2017 में समीर द्वारा हिंदी अनुवाद शुरू किया गया, जिसका शीर्षक था "एक खूबसूरत हाउस वाइफ, गुरुजी के आश्रम में" और लगभग 33% अनुवाद "Xossip" पर किया गया था।

अभी तक की कहानी मुलता उन्ही की कहानी पर आधारित है या उसका अनुवाद है और कुछ हिस्सों का अनुवाद मैंने किया है ।

कहानी काफी लम्बी है और मेरा प्रयास जारी है इसको पूरा करने का।

Reply
05-26-2022, 07:02 AM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे-

औलाद की चाह

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक-

अपडेट-3

सोनिआ भाभी रितेश के साथ 



अनिल : तुम दोनों यहाँ इतने समय से क्या कर रहे हो? एह? तुमने किया है अभी तक? लेकिन बड़ा मजा आया यार! आप दोनों को भी मजा आता हमारे साथ

मैंने देखा कि अनिल की चाल काफी अस्थिर थी और मनोहर अंकल भी अस्थिर थे । ऐसा लग रहा था कि वे शराब के नशे में धुत थे। रितेश मनोहर अंकल को पकड़ रहा था ताकि गिर न जाए!

मैं: भगवान का शुक्र है कि आपने दारु खत्म कर दी है , चलो रात के खाने के लिए आदेश दें।

अनिल : ओ? ठीक है ।

मनोहर अंकल : ज़रूर ? रश्मि !

रितेश को छोड़कर कोई भी पुरुष सभ्य अवस्था में नहीं था। मैंने रूम सर्विस का आदेश दिया और हमने किसी तरह रात का खाना खाया क्योंकि मनोहर अंकल पूरी तरह से होश खो चुके थे? और अनिल भी काफी नशे में था।

अनिल: ओ-के-बाए ! सभी को शुभ रात्रि! मेरी प्यारी पत्नी कहाँ है?

अनिल बस अपने होश में नहीं था। उसने मुझे सबके सामने गले से लगा लिया और मेरे चेहरे पर अपना चेहरा ब्रश करना शुरू कर दिया और मुझे बहुत अजीब लगा।

मैं: ओह! अनिल सम्भालो खुद को ! ठीक से व्यवहार करें!

लेकिन वह मुझे कसकर गले लगाता रहा और चलने ही वाला था। मुझे उस हालत मुझे इतनी शर्मिंदगी महसूस हुई खासकर सोनिया भाबी और मनोहर अंकल के सामने कि मैं तुरंत शर्म से लाल हो गयी ।

मनोहर अंकल : वाह बीटा अनिल !मेरी बुलबुल कहां है?

यह कहते हुए कि अंकल भाबी की ओर मुड़े , लेकिन उस समय उनकी हालत इतनी दयनीय थी कि वह लड़खड़ा गया और लगभग टेबल से टकराकर गिर पड़ा। रितेश जो काफी करीब था उसे अंकल को संभाला नहीं तो अंकल को जरूर चोट लगती ।

सोनिया भाबी: बकवास बंद करो और सो जाओ।

रितेश: भाबी, आप जाकर बिस्तर तैयार करो। हम अंकल का ख्याल रखेंगे।

सोनिया भाबी: ठीक है। और अनिल , तुम भी अपना मुंह बंद रखो और सो जाओ। रश्मि , बस एक बार मेरे साथ आ जाओ ।

यह कहकर वह अपने कमरे की ओर चली गई और मैंने और अनिल ने भी उसका अनुसरण किया। जैसे ही हम चल रहे थे, राजेश ने नशे की हालत के कारण अपना पूरा शरीरका भार मुझ पर डाल दिया और मुझे गलियारे के माध्यम से उसका मार्गदर्शन करने में बहुत कठिनाई हुई और समय लगा। वह कुछ अजीब सी धुन गा रहा था और बीच-बीच में कठबोली बोल रहा था। जैसे ही हमने अपने कमरे में प्रवेश किया, वह बिस्तर पर जाने के लिए उत्सुक था। बिस्तर पर गिरते ही आमिल ने मुझे अपने पास खींच लिया और मैं उसके सीने पर गिर पड़ी । उसने मुझे गले लगाया और मेरे गोल चूतड़ों को सहलाने और निचोड़ने लगा। ईमानदारी से कहूं तो मैं पहले से ही भाबी के निजी जीवन की कहानियों को सुनकर काफी उत्तेजित थी और मैंने तुरंत उसकी हरकतों पर प्रतिक्रिया देना शुरू कर दिया और आह भरने लगी । लेकिन दुर्भाग्य से अनिल काफी नशे में था और जल्द ही मेरे शरीर के कर्व्स पर उसके हाथ थिरकने लगे ।

मैं: ओहो! प्रिय आप क्या कर रहे हैं! मुझे ठीक से पकड़ो।

अनिल: ओह्ह! हां?.

वह मुझे चूमने की कोशिश कर रहा था, लेकिन उसके मुंह से आने वाली गंध इतनी प्रतिकूल थी कि मैंने चुंबन से परहेज किया। उसमे मुझ पर जबरदस्ती करने की ताकत नहीं थी और उसके होंठ ढीले पड़ रहे थे और मुझे महसूस हो रहा था कि मुझ पर उसकी पकड़ भी फिसल रही है। हालाँकि मुझे अंदर से गर्मी लग रही थी और मैं उत्तेजित थी , लेकिन अनिल की हालत देखकर मैंने उसे सो जाने दिया। मैं बिस्तर से उठी और अपने कपड़े ठीक किए और शौचालय चला गयी । मैंने अपना चेहरा धोया, और नाइटी पहनी । अब मुझे एक बार भाबी के कमरे में जाने की जरूरत थी, क्योंकि उसने मुझे बुलाया था, इसलिए मैंने बस मेरी नाइटी के ऊपर हाउसकोट लपेट दिया ताकि मैं अच्छी दिखूं।

जैसे ही मैं सोनिया भाबी के कमरे में प्रवेश करने वाली थी, मुझे अंदर रितेश की आवाज सुनाई दी। मैं तुरंत उत्सुक हो गयी ।

रितेश: ठीक है, तो मैंने अपना कर्तव्य निभाया भाबी, अब तुम अपने खजाने की देखभाल करो! हा हा हा?

सोनिया भाबी: मेरा सोता हुआ मनोहर !

अब मैंने पर्दे के माध्यम से कमरे के अंदर ध्यान से देखा और मनोहर अंकल को बिस्तर पर लेटे हुए, खर्राटे लेते हुए देखा, और भाबी बिस्तर के एक तरफ खड़े रितेश से बात कर रही थी जबकि रितेश दूसरी तरफ खड़ा था।

सोनिया भाबी: वैसे, इन्होने कितने जाम लिए ?

रितेश: सिक्स प्लस भाबी!

सोनिया भाबी: हे भगवान!

रितेश: चाचा एक ड्रम हैं! हा हा हा?

सोनिया भाबी: हुह!

रितेश: ओह! एक बात भाबी, क्या मैं यहाँ जल्दी से नहा सकता हूँ? दरअसल मेरे शौचालय में नल?.

सोनिया भाबी: क्यों? समस्या क्या है?

रितेश: मुझे नहीं पता, लेकिन मैंने पाया कि ऊपर वाले शॉवर के नल से पानी नहीं निकल रहा है।

सोनिया भाबी: ओह! ठीक है, कोई बात नहीं! आप चाहें तो तुरंत नहाने जा सकते हैं।

रितेश: धन्यवाद भाबी। मुझे ज्यादा समय नहीं लगेगा।

सोनिया भाबी: मुझे भी बदलने की जरूरत है। आज बहुत गर्मी है, है ना?

रितेश: मुझे लगता है कि आपने जिस वोदका का सेवन किया है, उसकी गर्मी आपको महसूस हो रही होगी। हा हा?

मैं अभी भी परदे के पीछे दरवाजे के किनारे पर खड़ी थी , लेकिन तनाव में हो रहा था क्योंकि अगर कोई गुजरने वाला या हाउसकीपिंग स्टाफ मुझे देखता है, तो यह बहुत अजीब होगा। लेकिन साथ ही मैं तुरंत अंदर जाने के लिए भी उत्सुक नहीं थी , क्योंकि मैं रितेश और सुनीता भाबी के बीच की केमिस्ट्री को देखने के लिए उत्सुक थी । इसलिए मैंने अपने मौके का फायदा उठाया और ऐसे ही उनकी बातचीत सुनना जारी रखा।

सोनिया भाबी: रितेश क्या आप थोड़ी देर इंतजार करेंगे? तब मैं कपडे बदल पाऊँ ?

रितेश: ज़रूर भाबी।

मैंने देखा कि सुनीता भाबी कमरे के एक कोने में गई, अलमारी खोली, और एक नीली नाइटी ली और शौचालय के अंदर बदलने के लिए चली गई। किसी भी पुरुष, जो पहले से ही नशे में था, के लिए यह दृश्य अपने आप में विचारोत्तेजक था, एक परिपक्व महिला शौचालय में जाने के लिए हाथ में एक नाइटी के साथ जा आरही थी जबकि उसका पति खर्राटे ले रहा था। रितेश बिस्तर पर बैठ गया और सिगरेट जलाते हुए शौचालय के बंद दरवाजे को देख रहा था। फिर उसने एक पल के लिए उस दरवाजे की ओर देखा जहाँ मैं खड़ी थी । मेरे दिल की धड़कन मानो रुक गई। लेकिन शुक्र है कि उन्होंने वहां ध्यान केंद्रित नहीं किया और निश्चित रूप से मुझे भी पता नहीं चल सका क्योंकि मैं पर्दे के पीछे थी ।

फिर वह खड़ा हो गया और बहुत ही बेरहमी से अपने लंड को अपनी पैंट के ऊपर से मोड़ लिया और बिस्तर पर लेट गया और मनोहर अंकल कुछ ही इंच की दूरी पर सो रहे थे। मेरा दिल तेजी से धड़क रहा था और मुझे अज्ञात उत्तेजना में पसीना आने लगा था। मैंने जल्दी से गलियारे की जाँच की; वहां कोई नहीं था।

सोनिया भाबी: रितेश, अब तुम वाशरूम में जा
 सकते हो।

जारी रहेगी




NOTE


1. अगर कहानी किसी को पसंद नही आये तो मैं उसके लिए माफी चाहता हूँ. ये कहानी पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी से कोई लेना देना नही है . मेरे धर्म या मजहब  अलग  होने का ये अर्थ नहीं लगाए की इसमें किसी धर्म विशेष के गुरुओ पर या धर्म पर  कोई आक्षेप करने का प्रयास किया है , ऐसे स्वयंभू गुरु या बाबा  कही पर भी संभव है  .



2. वैसे तो हर धर्म हर मज़हब मे इस तरह के स्वयंभू देवता बहुत मिल जाएँगे. हर गुरु जी, बाबा  जी  स्वामी, पंडित,  पुजारी, मौलवी या महात्मा एक जैसा नही होते . मैं तो कहता हूँ कि 90-99% स्वामी या गुरु या प्रीस्ट अच्छे होते हैं मगर कुछ खराब भी होते हैं. इन   खराब आदमियों के लिए हम पूरे 100% के बारे मे वैसी ही धारणा बना लेते हैं. और अच्छे लोगो के बारे में हम ज्यादा नहीं सुनते हैं पर बुरे लोगो की बारे में बहुत कुछ सुनने को मिलता है तो लगता है सब बुरे ही होंगे .. पर ऐसा वास्तव में बिलकुल नहीं है.



3.  इस कहानी से स्त्री मन को जितनी अच्छी विवेचना की गयी है वैसी विवेचना और व्याख्या मैंने  अन्यत्र नहीं पढ़ी है  .



4. जब मैंने ये कहानी यहाँ डालनी शुरू की थी तो मैंने भी इसका अधूरा भाग पढ़ा था और मैंने कुछ आगे लिखने का प्रयास किया और बाद में मालूम चला यह कहानी अंग्रेजी में "समितभाई" द्वारा "गुरु जी का (सेक्स) ट्रीटमेंट" शीर्षक से लिखी गई थी और अधूरी छोड़ दी गई थी।


बाद में 2017 में समीर द्वारा हिंदी अनुवाद शुरू किया गया, जिसका शीर्षक था "एक खूबसूरत हाउस वाइफ, गुरुजी के आश्रम में" और लगभग 33% अनुवाद "Xossip" पर किया गया था।

अभी तक की कहानी मुलता उन्ही की कहानी पर आधारित है या उसका अनुवाद है और कुछ हिस्सों का अनुवाद मैंने किया है ।

कहानी काफी लम्बी है और मेरा प्रयास जारी है इसको पूरा करने का।
Reply
06-05-2022, 07:42 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे

औलाद की चाह

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक-

अपडेट-4


कोई देख रहा है!


सोनिया भाभी शौचालय से बाहर आई। उसने अपनी रात में सोने की पोशाक पहनी हुई थी, लेकिन मुझे आश्चर्य हुआ क्योंकि उन्होंने बिना आस्तीन की नाइटी पहनी हुई थी, लेकिन बिना ओवर कोट के! इन नाइटीज़ को बाहरी लोगों के सामने नहीं पहना जा सकता क्योंकि पूरे बाजू के साथ-साथ ऊपरी स्तन क्षेत्र भी खुला रहता है। सोनिआ भाबी को बस इतना ही पहन कर सामने से बाहर आते देख मैं हैरान रह गयी । मुझे लगा भाबी पर नशे का असर जरूर पड़ा होगा। वह बिस्तर के पास आई और रोशनी के नीचे खड़ी हो गई, मैं उसकी ब्रा और पैंटी लाइनों को भी उसकी नाइटी के पतले नीले कपड़े के माध्यम से स्पष्ट रूप से देख सकती थी। मैंने देखा कि रितेश भी भाबी को लेटे-लेटे देख रहा था।

सोनिया भाबी: क्या हुआ? अपने स्नान के लिए जाओ?

रितेश: आह! मेरा मन यही सोने का कर रहा है?

सुनीता भाबी: बढ़िया! तो आप यहाँ अपने चाचा के साथ सो जाओ ताकि अगर आप बीच में उठते हैं, तो बस अपनी बोतल फिर से खोल पाएंगे? हुह! तब मैं तुम्हारे कमरे में चैन की नींद सो सकूँगी!

रितेश: हा-हा हा? और अगर आधी रात में चाचा मुझे यह सोचकर गले लगाने लगे कि यह तुम हो, तो मेरा क्या होगा? हा-हा हा?

सुनीता भाबी: ओह्ह? बहुत अजीब बात है! बस चुप रहो और नहाने के लिए जाओ? चलो! चलो! । उठ जाओ!

वह अब बिस्तर के पास गई और रितेश को ऊपर खींच का खड़ा करने की कोशिश की। सुनीता भाबी जैसे-जैसे झुकी वह अपना काफी सेक्सी अंदाज़ पेश कर रही थी। उसकेस्तनों को दरार और स्तन उजागर हो गए और रितेश इतने करीब से इसका पूरा आनंद ले रहा था, लेकिन अगले ही पल उसने जो किया तो मेरा मुंह खुला का खुला रह गया!

भाबी उसे अपने हाथ से खींच रही थी और रितेश अपनी लेटी हुई स्थिति से थोड़ा ऊपर उठा और फिर एक झटका दिया और भाबी अपना संतुलन नहीं रख सकी और उसके ऊपर आ गई!

सुनीता भाबी: इ उईईई? ।

उसके शरीर पर गिरते ही भाभी चिल्लायी। निस्संदेह, यह दृश्य यादगार था। मनोहर अंकल सो रहे थे और ठीक उनके बगल में उनकी पत्नी उसी पलंग पर दूसरे पुरुष के ऊपर पड़ी हुई थी!

सामान्य परिस्थितियों में निश्चित रूप से भाबी ने रितेश के शरीर से तुरंत खुद को अलग कर लिया होता, लेकिन चूंकि दोनों नशे में थे, इसलिए घटनाओं का क्रम थोड़ा अलग था। मैंने देखा कि रितेश काफी स्मार्ट था और उसने दोनों हाथों से भाबी को जल्दी से गले लगा लिया और स्वाभाविक रूप से भाबी इस सेक्सी मुद्रा में अपने दोनों स्तनों को सीधे रितेश की सपाट छाती पर दबाते हुए तुरंत उत्तेजित हो गई।

रितेश: ऊई माँ! कोई मुझे बचाओ!

सोनिआ भाबी: तुम? तुम शरारती क्या मैं इतनी वजनी हूँ?

रितेश: अंकल कृपया उठो औरअपनी बुलबुल की सम्भालो? ।

सुनीता भाबी: बदमाश!

रितेश: आपको सलाम अंकल! सलाम! आप यह भार रोज उठा रहे हैं? हा-हा हा?

वे जोर से हँसे और मैंने देखा कि सुनीता भाबी उसके ऊपर पड़ी रही! उसने कभी भी उठने की कोशिश नहीं की और उसके स्तन उसके सीने पर और रितेश के टांगो ने भाभी की मांसल जांघों को कसकर दबाया हुआ था। मुझे खुद ही उत्तेजना जनित गर्मी लगने लगी और ये सीन देखकर ही पसीना आ गया!

सोनिआ भाबी: आई? रितेश? मुझे उठना है! मैं इस तरह नहीं रह सकती!

रितेश: क्यों? समस्या क्या है?

सोनिआ भाबी: क्या मतलब?

रितेश: अरे हाँ! कोई जरूर आपको देख रहा है!

सुनीता भाबी: कौन? मेरा मतलब है कौन?

भाबी काफी हैरान थी, उसकी आवाज में भी हैरानी झलकती थी और मैं भी। क्या रितेश ने मुझे पर्दे के पीछे देख लिया है?

रितेश: अरे! अंकल यार! आपका पूज्य पति-देव! वह अब आपको अपने सपनों में देख रहे होंगे? हा-हा हा! हो हो?

सुनीता भाबी: तुम भी न! छोड़ो मुझे और बस उठ जाओ! उठो मैं कहती हूँ।

आखिर में भाबी ने रितेश से खुद को अलग कर लिया और उठकर रितेश का मज़ाक उड़ा रही थी और वह भी बिस्तर से उठकर शौचालय की ओर भागा। सुनीता भाबी इतनी मोटी फिगर के साथ रितेश का पीछा करते हुए उसके पीछे भागी और उस नीली नाइटी में अविश्वसनीय रूप से सेक्सी लग रही थीं।

मैंने कुछ देर इंतजार किया और उसके बाद कमरे में प्रवेश करने का फैसला किया।

ठीक उस समय मुझे से देखकर भाबी थोड़ा अचंभित थी, लेकिन बहुत जल्दी सामान्य हो गयी और मुझे उसने 600 / -रुपये सौंप दिए और बोली कि ये पैसे उन पर मेरा उधार बकाया था। वह मुझे मेरे कमरे में जल्दी से वापस भेजने के लिए काफी ज्यादा अधिक उत्सुक थी और मैं भी रितेश के साथ उनकी छोटी-सी शरारती दौड़ में खलल नहीं डालना चाहती थी। मैंने उसे शुभ रात्रि बोली और अपने कमरे की तरफ चल दी। हालाँकि मैंने गलियारे से अपने कमरे की ओर कुछ कदम उठाए, ताकि सुनीता भाबी को पूरी तरह से यकीन हो जाए कि मैं दूर हूँ, फिर मैं वापस मुड़ी और एक मिनट में फिर से उसके कमरे की तरफ लौट आयी।

मेरा भाग्य था कि मैं आगे का भी दृश्य देखू!

दरवाजा अभी भी खुला था, हालांकि पर्दा ठीक कर दिया गया था। मैं जो कुछ भी कर रही थी उसमें से मैं एक अजीब उत्तेजना का एहसास था और मैंने फिर से झाँकने से पहले एक पल के लिए इंतजार किया। इस जोखिम भरे काम को करते हुए मुझे अपने दिल की धड़कन साफ सुनाई दे रही थी। मैंने, एक बार फिर। परदे के ओट से अंदर झाँका।

सोनिआ भाबी: क्या आप का स्नान हो गया हैं?

रितेश: हाँ भाबी। एक सेकंड में बाहर आ रहा हूँ।

अगले ही पल मैंने रितेश थोडा-सा कपड़ा पहन कर शौचालय से बाहर आते देखा! मैंने देखा कि सुनीता भाबी भी उन्हें उस पोशाक एक टक देख ही थी। रितेश ने ऐसा किया कि वह भाबी को शायद सबसे अच्छे तरीके से अपना बदन दिखाना चाहता था। उसके अंडरवियर के चमकीले लाल रंग ने चीजों को और अधिक आकर्षक बना दिया क्योंकि उसके छोटे से अंडरवियर में से उसका सीधा उपकरण अपना सिर ऊपर करके खड़ा हुआ साफ़ नजर आ रहा था! स्वाभाविक रूप से सोनिया भाबी इस बात को नज़रअंदाज़ नहीं कर सकीं और वह भी इसकी ओर आकर्षित हो गईं। वास्तव में, मैं भी ध्यान से उसके अंडरवियर के अंदर उसकी कड़ी छड़ का उभार देख रही थी।

रितेश: मुझे आशा है कि आपको बुरा नहीं लगेगा भाबी? मैं इस तरह बाहर आ गया हूँ? लेकिन मेरे पास कोई और उपाय नहीं है! मेरी पैंट बाल्टी में गिर कर गीली हो गयी है।

सुनीता भाबी: नहीं, नहीं? यह? ठीक है? ऐसी स्थिति में तुम और क्या कर सकते हो?

मैंने देखा की भाबी की लाली भरी आँखें उसके कच्छे के इर्द-गिर्द घूम रही थीं और साथ में वह जल्दी से अपनी ब्रा एडजस्ट कर रही थी वह रितेश के खड़े हुए लिंग को उसके कच्छे के अंदर देखकर जोर से सांस ले रही थी।

रितेश: मैंने रश्मि की आवाज सुनी? क्या वह यहाँ आई थी?

सुनीता भाबी: हाँ? मेरा मतलब है हाँ, कुछ क्षण पहले, मुझे उसके कुछ पैसे देने थे।

रितेश: ओह! तो बेहतर होगा कि मैं चला जाऊँ, अगर वह वापस आ गयी तो बहुत अजीब लगेगा? खासकर जब मैं यहाँ मैं इस तरह खड़ा हूँ।

सुनीता भाबी: नहीं, नहीं। वह चली गई है। वह नहीं आएगी अब? ।

सुनीता भाबी अपनी बात पूरी नहीं कर पाईं क्योंकि नींद में मनोहर अंकल ने सादे पलटी और एक तरफ से दूसरी तरफ घूम गए। रितेश और भाबी जैसे बिस्तर पर चाचा की हरकत देखकर ठिठक गए और जाहिर तौर पर वे डर गए। भाबी ने बिना शोर मचाए रितेश को तुरंत जाने का इशारा किया और रितेश ने भी अपने होठों पर उंगली रखकर दरवाजे की ओर दबे पाँव बढ़ गया। मनोहर अंकल अपनी मूल स्थिति में वापस आ गए थे और फिर से खर्राटे लेने लगे।

रितेश: शुभ रात्रि भाबी। रितेश लगभग फुसफुसाया।

सुनीता भाबी: ईई? एक मिनट।

भाबी लगातार अपने सोते हुए पति पर नजर रखने के बावजूद रितेश की ओर बढ़ी। मुझे यह भी एहसास हुआ कि मुझे अब चलना चाहिए।

लेकिन तभी?

सुनीता भाबी रितेश के बहुत करीब आ गई और मैं चकित रह गयी जब उसने सीधे उसके कड़े लंड को पकड़ लिया और उसके कानों में कुछ फुसफुसायी। भाबी की इस बेहद बोल्ड अदा से मैं दंग रह गयी। जैसा कि रितेश के हाव-भाव से जाहिर हो रहा था, रितेश ने भी शायद इसकी बिलकुल उम्मीद नहीं की थी और एक पल के लिए वह भी मानो विपन्न-सा देखा। जब वह ठीक हुआ तो उसने भाबी को पकड़ने की कोशिश की, वह उसे दरवाजे की ओर धकेलने लगी। मुझे घटनास्थल से जाना पड़ा नहीं तो अब मैं जरूर उन्हें देखती हुई पकड़ी जाती क्योंकि भाबी के धक्का देने के कारण रितेश दरवाजे के बहुत करीब था।

मैं तुरंत मौके से गायब हो गयी और जल्दी से अपने कमरे में आ गयी और दरवाजा बंद कर लिया। मैं अब भी सोच रही थी कि क्या रितेश इसके बाद सोने के लिए अपने कमरे में जाने को तैयार हो गया? या उस कमरे में ही कुछ और एक्शन हुआ या सुनीता भाबी रितेश के साथ उनके कमरे में गई! मुझमें दोबारा उनके कमरों में झाँकने की हिम्मत नहीं हुई और इसलिए मेरे लिए ये सस्पेंस रह गया।

राजेश गहरी नींद सो रहा था। मुझे सामान्य होने में कुछ समय लगा क्योंकि मैं यह ताक झाँक करते हुए हांफ गयी थी! ताक झाँक? और ईमानदारी से अभी मैंने जो भी आखिरी बार अपनी आँखों से देखा था मैं उस पर विश्वास करने असमर्थ थी । मैंने अपने आंतरिक वस्त्रों की निकला और बिस्तर पर सोने के लिए चली गयी और मैं सोने से पहले बहुत देर तक रितेश और भाबी के बारे में सोचती रही ।

अगली सुबह स्वाभाविक रूप से हम सभी देर से उठे और निश्चित रूप से नाश्ते की मेज पर पिछली रात से बारे में बात करते हुए और हंसी के साथ बाते हुई। मनोहर अंकल और राजेश एक बार फिर बाज़ार जाने को आतुर थे क्योंकि अगली सुबह हमे वहाँ से जाना था। सोनिया भाबी और मैं, रितेश के साथ बीच पर जाने के लिए तैयार हुए। आज हमने तय किया कि हम सूखे कपड़ों का एक सेट ले जाएंगे ताकि नहाने के बाद हमें अपने गीले कपड़ों में ज्यादा देर न रहना पड़े। कल हमने देखा था कि समुद्र तट पर चेंजिंग रूम थे।

जारी रहेगी


NOTE




1. अगर कहानी किसी को पसंद नही आये तो मैं उसके लिए माफी चाहता हूँ. ये कहानी पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी से कोई लेना देना नही है . मेरे धर्म या मजहब  अलग  होने का ये अर्थ नहीं लगाए की इसमें किसी धर्म विशेष के गुरुओ पर या धर्म पर  कोई आक्षेप करने का प्रयास किया है , ऐसे स्वयंभू गुरु या बाबा  कही पर भी संभव है  .







2. वैसे तो हर धर्म हर मज़हब मे इस तरह के स्वयंभू देवता बहुत मिल जाएँगे. हर गुरु जी, बाबा  जी  स्वामी, पंडित,  पुजारी, मौलवी या महात्मा एक जैसा नही होते . मैं तो कहता हूँ कि 90-99% स्वामी या गुरु या प्रीस्ट अच्छे होते हैं मगर कुछ खराब भी होते हैं. इन   खराब आदमियों के लिए हम पूरे 100% के बारे मे वैसी ही धारणा बना लेते हैं. और अच्छे लोगो के बारे में हम ज्यादा नहीं सुनते हैं पर बुरे लोगो की बारे में बहुत कुछ सुनने को मिलता है तो लगता है सब बुरे ही होंगे .. पर ऐसा वास्तव में बिलकुल नहीं है.







3.  इस कहानी से स्त्री मन को जितनी अच्छी विवेचना की गयी है वैसी विवेचना और व्याख्या मैंने  अन्यत्र नहीं पढ़ी है  .







4. जब मैंने ये कहानी यहाँ डालनी शुरू की थी तो मैंने भी इसका अधूरा भाग पढ़ा था और मैंने कुछ आगे लिखने का प्रयास किया और बाद में मालूम चला यह कहानी अंग्रेजी में "समितभाई" द्वारा "गुरु जी का (सेक्स) ट्रीटमेंट" शीर्षक से लिखी गई थी और अधूरी छोड़ दी गई थी।




बाद में 2017 में समीर द्वारा हिंदी अनुवाद शुरू किया गया, जिसका शीर्षक था "एक खूबसूरत हाउस वाइफ, गुरुजी के आश्रम में" और लगभग 33% अनुवाद "Xossip" पर किया गया था।

अभी तक की कहानी मुलता उन्ही की कहानी पर आधारित है या उसका अनुवाद है और कुछ हिस्सों का अनुवाद मैंने किया है ।

कहानी काफी लम्बी है और मेरा प्रयास जारी है इसको पूरा करने का।
Reply
06-24-2022, 09:15 AM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे

[img=689x1567]https://i.ibb.co/Z2jPZdX/GIF1.gif[/img]




औलाद की चाह

CHAPTER 7 - छटी सुबह

फ्लैशबैक- सागर किनारे

अपडेट-1


निर्जन समुद्र तट !



मैं रितेश और सोनिया भाभी समुद्र तट पर नाश्ते के बाद ही आ गए थे, इस कारण से समुद्र तट पर भीड़ बहुत कम थी। दिन भी ज्यादा गर्म नहीं था क्योंकि ठंडी हवा चल रही थी। हमारे पास समुद्र तट की ओर बहुत से नारियल के पेड़ थे और हम सब कुछ देर रेत पर टहलते रहे।

रितेश: रश्मि, आज हम समुद्र तट के इस हिस्से में स्नान नहीं करेंगे। एक पत्थर फेंकने की दूरी पर एक और खूबसूरत जगह है। कल मैंने इसका पता लगाया था।

मैं: वाक़ई? कहाँ है?

रितेश: हम रिक्शा से जा सकते हैं। मुश्किल से 15-20 मिनट लगेंगे।

सोनिआ भाबी: यह जानकर बहुत अच्छा लगा।

मैं: चलो फिर चलते हैं। हम यहाँ जितनी देर करेंगे, सूरज जोर से चमकने लगेगा और गर्मी बढ़ जायेगी।

रितेश: ठीक है!

रितेश रिक्शा स्टैंड पर गया और हमारे लिए एक साइकिल-रिक्शा लाया और हम मुख्य सीट पर बैठ गए और रितेश ने खींचने वाले की सीट साझा की। करीब आधे घंटे में हम मौके पर पहुँच गए। दरअसल यह उतना करीब नहीं था जितना रितेश ने शुरू में बताया था। वास्तव में समुद्र तट ने एक मोड़ ले लिया था और हालांकि समुद्र तट का यह हिस्सा काफी ऊबड़-खाबड़ था, लेकिन सेटिंग अच्छी थी।

सोनिआ भाबी: वाह! यह जगह बहुत खूबसूरत लगती है, खासकर पहाड़ी पृष्ठभूमि के साथ।

रितेश: मैंने तुमसे कहा था। यह एक बहुत अच्छी जगह है।

मैंने यह भी नोट किया कि आश्चर्यजनक रूप से वह स्थान बिल्कुल उजाड़ और निर्जन था। रिक्शा वाले और हमारे अलावा उस तट पर कोई नहीं था। इसके अलावा समुद्र तट वास्तव में चट्टानी था।

मैं: लेकिन? लेकिन समुद्र तट बहुत पथरीला लगता है। यहाँ कोई कैसे स्नान कर सकता है?

रिक्शा चलाने वाला: महोदया, यहाँ लोग नहाते हैं। यहाँ रोजाना कई विदेशी आते हैं। बस कुछ देर रुकिए, 11 बजे के बाद ये आना शुरू हो जाएंगे।

रितेश: जाओ और देखो! मैं रिक्शावाले के साथ प्रतीक्षा करने की दर तय कर लेता हूँ।

हम समुद्र तट की ओर बढ़े और रितेश ने रिक्शा वाले से बात की। गहरे नीले पानी में सुनहरी रेत के साथ दृश्य वास्तव में अच्छा था और पृष्ठभूमि में पहाड़ी वास्तव में सुरम्य थी।

रितेश: चलो समंदर में चलते हैं।

हम दोनों वापस लौट आए क्योंकि रितेश पहले से ही वहाँ था और हमने देखा कि रिक्शा वाला भी हमारे कैरी बैग के साथ रितेश के पीछे आ रहा था।

रितेश: वह तब तक इंतजार करेगा जब तक हम स्नान नहीं कर लेते और हमारे कपड़े, कैमरा और सैंडल की देखभाल करेंगा।

सोनिया भाबी: वाह! बहुत बढ़िया!

मैं: लेकिन किसी भी मामले में यहाँ कोई नहीं है। इन्हें कौन चुराएगा?

रितेश: फिर भी रश्मि, सुरक्षित रहना ही बेहतर है। यह हमारे लिए एक अनजान जगह है। है ना?

सोनिआ भाबी: नहीं रश्मि, रितेश ने सही काम किया है। किसी को पहरा देना अच्छा है।

चलते समय हमें सावधान रहना पड़ा क्योंकि समुद्र तट पर बहुत सारे कंकड़ और छोटी-छोटी नुकीली चट्टानें रेत में मिली हुई थीं। हम लगभग पानी तक पहुँच चुके थे और यहाँ समुद्र तट तुलनात्मक रूप से साफ और चट्टानों से रहित था। रिक्शा वाला भी वहीं था, बैग लिए हुए कुछ ही पीछे खड़ा था, जिसमें मेरी एक सलवार-कमीज और भाबी की एक साड़ी, पेटीकोट और ब्लाउज था। हमने एक अंडरगारमेंट सेट भी लिया था और बैग में कैमरा भी था। रितेश कुछ भी नहीं लाया था, क्योंकि उसे विश्वास था कि वह तेज धूप में आसानी से सूख जाएगा।

मैंने अपनी-अपनी चुनरी उतारी और रितेश को सौंप दी ताकि वह उसे पैकेट में रख सके। मेरे बड़े और सुडोल स्तन अब मेरे कामिज़ के अंदर चुनरी के बिना और अधिक स्पष्ट दिख रहे थे। चूंकि रिक्शा वाला काफी पास खड़ा था, मुझे कुछ अजीब-सा लगा। रितेश ने भी अपने शॉर्ट्स उतारना शुरू कर दिए, जो उसने अपनी पतलून के नीचे पहने हुए थे।

रितेश: ठीक है, भाई तुम यहीं रुको। बस पानी से सुरक्षित दूरी बनाकर रखना क्योंकि उस पैकेट में सूखे कपड़े हैं।

रिक्शा वाला: साहब चिंता मत करो। मैं आपके पैकेट की देखभाल करूंगा। लेकिन? लेकिन मुझे लगता है कि?

रितेश: क्या आप कुछ कहना चाहते हैं?

रिक्शा चलाने वाला: हाँ साहब! मैडम के लिए।

यह कह कर उन्होंने भाबी को इशारा किया।

रितेश: क्या?

रिक्शा चलाने वाला: साहब, यहाँ समुद्र का करंट बहुत ज्यादा है। समुद्र में जाते समय साड़ी पहनना एक बड़ा जोखिम है।

सोनिया भाबी: हम गहराई में नहीं जाएंगे और फिर रितेश मेरी बगल में ही होगा।

रिक्शा चलाने वाला: फिर भी महोदया, पानी के तेह बहाव और करंट के कारण आपका संतुलन बिगड़ सकता है। आप यहाँ नए हैं, आप इस जगह में पानी के प्रवाह को नहीं जानते हैं।

भाबी और मैंने एक दूसरे को देखा। हम पानी के करंट के बारे में सुनकर थोड़े चिंतित थे।

रितेश: भाबी, क्या करें?

सोनिआ भाबी: आपका क्या सुझाव है?

रितेश: देखिए भाबी, आखिर वह एक स्थानीय है और समुद्र को हमसे बेहतर जानता है।

सोनिआ भाबी: लेकिन? लेकिन मैं अपने साथ सलवार-कमिज़ नहीं लायी हूँ।

रितेश: भाबी, वह जो कहता है उस पर शब्दशः न करें?

भाबी ने सवालिया नजरों से रितेश की तरफ देखा।

रितेश: आपको सलवार-कमिज़ में बदलने की ज़रूरत नहीं है। हाँ, करंट में साड़ी को मैनेज करना मुश्किल होगा। आप साड़ी यहीं छोड़ सकती हैं।

सोनिआ भाबी: मतलब? तुम्हारा मतलब है? मैं अपने पेटीकोट और ब्लाउज में जाऊँ?

रितेश: हाँ।

सुनीता भाबी: लेकिन? लेकिन मैं येर कैसे कर सकती हूँ?

रितेश: भाबी? यह एक बहुत ही सुरक्षित और निर्जन जगह है। बहुत कोशिश करने पर भी आपको यहाँ देखने वाला एक भी व्यक्ति नहीं मिलेगा।

सुनीता भाबी: वह तो ठीक है, लेकिन?

रिक्शा-चालक: यह पर्यटकों के लिए एक प्रसिद्ध स्थान नहीं है। मैडम यहाँ विदेशियों के अलावा कोई नहीं आता। वे भी लगभग दोपहर के समय आते हैं और आपको तो पता ही है वह तो पूरे कपडे भी निकाल देते हैं ।

स्थिति बहुत ही अजीब होती जा रही थी। दो पुरुष एक विवाहित 40+ महिला को अपनी साड़ी उतारने और स्नान के लिए जाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे थे कि उसे यहाँ कोई भी नहीं देखेगा!

रिक्शा-चालक: मैडम देखिये, पैरों में कुछ भी चिपक जाने से उस धारा में परेशानी हो सकती है।

रितेश: ठीक है। भाबी यहाँ चांस नहीं लेना चाहिए। अपनी साड़ी उसके पास छोड़ दो।

सुनीता भाबी: ओह! ठीक है, जैसा आप कहते हैं।

इतना कहकर भाबी हमसे दूर हो गई और साड़ी खोलने लगी। सुनीता भाबी दिन के उजाले में खड़ी अपनी साड़ी को खोलने लगी और वह भी दो पुरुषों के सामने, विशेष रूप से रिक्शा चलाने वाले के सामने, यह बेहद अजीब लग रहा था। भाबी की सुडौल पीठ और उसकी विशाल गांड को देखकर रिक्शा चलाने वाले की आँखें मानो बाहर निकल आईं। जैसे ही वह हमारी ओर मुड़ी, वह काफी आकर्षक लग रही थी, क्योंकि उसके तंग गोल स्तन उसके ब्लाउज में बहुत बड़े लग रहे थे। भाबी के स्तनों की उजली दरार भी नजर आ रही थी, जो उन्हें हॉट लुक दे रहे थे। भाबी ने अपनी साड़ी रिक्शा वाले को सौंप दी, जिसने मुस्कुराते हुए उसे ले लिया।

रितेश: भाबी आप बहुत अच्छी लग रही हो!

सोनिआ भाबी: बस चुप रहो!

भाबी अपने खुली हुए दरार को ढकने के लिए अपने ब्लाउज को समायोजित करने की कोशिश कर रही थी, लेकिन यह एक असंभव काम था। तभी मैंने उनकी कमर पर नज़र डाली और चौंक गयी। भाबी को कुछ भी संकेत देने से पहले मैंने अपनी आंखों के कोने से रिक्शा वाले को देखा कि क्या उसने यह देखा है और मेरे पूर्ण सदमे में मैंने देखा कि वह केवल वही देख रहा था! मैं इस निम्न वर्ग के व्यक्ति की गंदी निगाहों को स्पष्ट रूप से समझ रही थी।

जो मैं देख रही थी, रिक्शा वाले की भी उस पर नजर थी!

जारी रहेगी


NOTE


1. अगर कहानी किसी को पसंद नही आये तो मैं उसके लिए माफी चाहता हूँ. ये कहानी पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी से कोई लेना देना नही है . मेरे धर्म या मजहब  अलग  होने का ये अर्थ नहीं लगाए की इसमें किसी धर्म विशेष के गुरुओ पर या धर्म पर  कोई आक्षेप करने का प्रयास किया है , ऐसे स्वयंभू गुरु या बाबा  कही पर भी संभव है  .

2. वैसे तो हर धर्म हर मज़हब मे इस तरह के स्वयंभू देवता बहुत मिल जाएँगे. हर गुरु जी, बाबा  जी  स्वामी, पंडित,  पुजारी, मौलवी या महात्मा एक जैसा नही होते . मैं तो कहता हूँ कि 90-99% स्वामी या गुरु या प्रीस्ट अच्छे होते हैं मगर कुछ खराब भी होते हैं. इन   खराब आदमियों के लिए हम पूरे 100% के बारे मे वैसी ही धारणा बना लेते हैं. और अच्छे लोगो के बारे में हम ज्यादा नहीं सुनते हैं पर बुरे लोगो की बारे में बहुत कुछ सुनने को मिलता है तो लगता है सब बुरे ही होंगे .. पर ऐसा वास्तव में बिलकुल नहीं है.


3.  इस कहानी से स्त्री मन को जितनी अच्छी विवेचना की गयी है वैसी विवेचना और व्याख्या मैंने  अन्यत्र नहीं पढ़ी है  .

4. जब मैंने ये कहानी यहाँ डालनी शुरू की थी तो मैंने भी इसका अधूरा भाग पढ़ा था और मैंने कुछ आगे लिखने का प्रयास किया और बाद में मालूम चला यह कहानी अंग्रेजी में "समितभाई" द्वारा "गुरु जी का (सेक्स) ट्रीटमेंट" शीर्षक से लिखी गई थी और अधूरी छोड़ दी गई थी।


बाद में 2017 में समीर द्वारा हिंदी अनुवाद शुरू किया गया, जिसका शीर्षक था "एक खूबसूरत हाउस वाइफ, गुरुजी के आश्रम में" और लगभग 33% अनुवाद "Xossip" पर किया गया था।

अभी तक की कहानी मुलता उन्ही की कहानी पर आधारित है या उसका अनुवाद है और कुछ हिस्सों का अनुवाद मैंने किया है ।

कहानी काफी लम्बी है और मेरा प्रयास जारी है इसको पूरा करने का।
Reply
08-28-2022, 05:25 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - छटी सुबह

फ्लैशबैक- सागर किनारे

अपडेट-2


निर्जन सागर किनारे समुद्र की लहरे !

भाबी अपने खुली हुए दरार को ढकने के लिए अपने ब्लाउज को समायोजित करने की कोशिश कर रही थी, लेकिन यह एक असंभव काम था। तभी मैंने उनकी कमर पर नज़र डाली और चौंक गयी। भाबी को कुछ भी संकेत देने से पहले मैंने अपनी आंखों के कोने से रिक्शा वाले को देखा कि क्या उसने यह देखा है और मेरे पूर्ण सदमे में मैंने देखा कि वह केवल वही देख रहा था! मैं इस निम्न वर्ग के व्यक्ति की गंदी निगाहों को स्पष्ट रूप से समझ रही थी।

जो मैं देख रही थी, रिक्शा वाले की भी उस पर नजर थी!


दरअसल भाबी ने अपने पेटीकोट की गाँठ बाँधने वाली जगह को अपने दाएँ तरफ घुमाया था। महिलाएं जो नियमित रूप से साड़ी पहनती हैं, अक्सर आराम महसूस करने के लिए इस अभ्यास का पालन करती हैं, क्योंकि कभी-कभी जब हमने पैंटी नहीं पहनी होती है और अपनी साड़ी खोली होती है और जब हम सिर्फ पेटीकोट में होती हैं , तो पेटीकोट का चीरा वास्तव में हमारी चूत और योनि क्षेत्र के बालों को उजागर कर देता है। इसलिए अगर हम सिर्फ पेटीकोट को घुमा कर एक तरफ गाँठ बाँधते हैं, तो हमे अधिक सुरक्षित महसूस होता है। सोनिआ भाबी ने भी वैसा ही किया था, लेकिन उसकी लाल रंग की पैंटी उसके पेटीकोट के चीरे से साफ दिखाई दे रही थी! बेशक भाबी इस बात से अनजान थी और उस रिक्शाचालक को एक बहुत ही सेक्सी नजारा पेश कर रही थी।

हम सब पानी की ओर चलने लगे और मैंने भाबी को कोहनी मारी और उसके पेटीकोट के चीरे के बारे में संकेत दिया। जै उसने इसे जल्दी से समायोजित कर लिया।

रितेश: यह क्षेत्र कमोबेश चट्टानों और कंकड़ से साफ है। क्या कहती हो रश्मि ?

मैं हां? ठीक लगता है।

जैसे ही हमने पानी में प्रवेश किया, हम आसानी से पानी के प्रवाह और करंट को समझ सकते थे। हमने एक-दूसरे को कस कर पकड़ रखा था क्योंकि समुद्र हमारे पैरों के नीचे रेत को को काटने लगा था। हालांकि समुद्र शांत दिखाई दे रहा था, लेकिन एक तेज अंतर्धारा थी। सोनिआ भाबी हमारे बीच में थीं और पहले से ही मैं जानती थी कि वो दोनों सही अर्थ में एक-दूसरे की ओर झुक रहे थे।

भाबी और मैं हर तरह की चीख-पुकार कर चिल्ला चिल्ला कर मस्ती कर रहे थे क्योंकि रितेश ने हमें समुद्र में अधिक से अधिक अंदर तक खींच लिया था । रितेश हम दोनों को संभालने वाले एक अच्छे अनुभवी तैराक लग रहे थे। रितेश ने अचानक हमारा हाथ छोड़ दिया और हम पर समंदर का पानी छिड़कने लगा। और यह आकस्मिक था, लेकिन उसने गंभीरता से हमारे ऊपरी हिस्सों को भीगाना शुरू कर दिया। अभी तक मैं जाँघों तक गीली थी , लेकिन अब रितेश ने मेरे ऊपर के हिस्से को भिगो दिया। स्वाभाविक रूप से मेरे स्तन मेरी पोशाक पर अधिक स्पष्ट दिख रहे थे और ठंडे पानी ने तुरंत मेरे निपल्स को कठोर बना दिया। सभ्य दिखने के लिए मैंने अपनी कमीज को आगे किया । भाबी जोर से हंस रही थी और रितेश को मुझे और गीला करने के लिए प्रोत्साहित कर रही थी!

मैं: अरे? रितेश, रुक जाओ ।

रितेश :: अणि में गीला होने से डर रही ही

और रितेश हंस रहा था और शायद भाबी के प्रोत्साहन से अब मुझ पर पानी बरसा रहा था और कुछ ही समय में मेरा सामने वाला हिस्सा भीग गया था। मेरे बूब्स ऐसे लग रहे थे जैसे दो पके अमरूद धूप में चमक रहे हों। मैं अब काफी आवेश में आ गयी थी और पहले रितेश को उसी तरह भिगाया और फिर मैंने मेरा ध्यान भाबी की ओर लगाया।

मैं: भाबी, जब वह मुझ पर पानी डाल रहा था, आप बहुत एन्जॉय कर रही हो? अब देखें कैसा लगता है।

भाबी ने जिस तरह से मुझे गीला करने के लिए रितेश को उकसाया, उससे मैं वास्तव में काफी नाराज थी । रितेश औरमैंने दोनों ने भाबी पर हमला किया और एक झटके में वह पूरी भीग गई। उसका ब्लाउज भीग गया और उसकी सफेद ब्रा अब बहुत साफ दिख रही थी।

मैं: अब, कैसा लग रहा है आप को ?

मैंने किसी तरह खुद को कोई भी गाली बोलने से नियंत्रित किया। भाबी अब गीली हालत में बेहद सेक्सी लग रही थीं, खासकर बिना साड़ी के।

रितेश: भाबी, देखो वहां क्या है कितना बड़ा पक्षी !

भाबी के साथ मैंने भी ऊपर देखा और रितेश ने उस मौके का फायदा उठाया और भाबी को पानी में धकेल दिया, क्योंकि वह उस पल के लिए पूरी तरह से बेफिक्र थी। मुझे भाबी को उस असहाय अवस्था में देखकर बहुत अच्छा लगा और रितेश और मैं दोनों को बहुत हंसी आई। हालांकि रितेश ने जल्दी से भाभी को पकड़ लिया, नहीं तो समुद्र का तेज प्रवाह उसे और समुद्र में खींच लेता। लेकिन उस समय तक भाबी पूरी तरह से अपनी कमर तक नग्न हो गयी थी । जैसे ही वह गिरी और पानी में पूरी तरह से उसका पेटीकोट उसकी कमर तक उठ गया और उसकी मांसल जांघों को उजागर कर दिया और उनकी कमर के पीछे केवल उनकी लाल पैंटी काफी देर तक चमकती रही। सोनिआ भाबी ने थोड़ा नमकीन पानी पिया लेकिन फिर वो खांस रही थी और ठीक होने में एक मिनट का समय लगा।

रितेश: क्या तुम अब ठीक हो? आशा है कि आप आहत नहीं हैं?

सोनिआ भाबी: नहीं, नहीं, मैं ठीक हूँ। अच्छा मज़ाक था ।

वह फिर भी खांसते हुए हंस रही थी।

रितेश: लगता है तुमने खारा पानी पी लिया है!

सोनिआ भाबी: हां, काफी।

रितेश: तो मुझे इसे बाहर निकालने की जरूरत है?

सोनिआ भाबी: लेकिन कैसे?

रितेश: सिंपल! रश्मि , एक बार अपनी आँखें बंद करो?

मैं क्यों?

रितेश: मुझे पानी पंप करना है।

मैं: जिस तरह से आपने हमें गीला किया है उसके बाद क्या कोई शर्म बाकी है?

सोनिआ भाबी: सच कह रही हो तुम रश्मि ?

रितेश: तो मैं पंप करना शुरू कर रहा हूँ?

सोनिआ भाबी: लेकिन? आख़िर कैसे?

रितेश: सिंपल! ऐसे ही? जितना अधिक आप पंप करेंगे, उतना अधिक पानी निकलेगा?

यह कहते हुए कि उसने अचानक भाबी के स्तन पकड़ लिए और उन्हें एक साथ निचोड़ लिया। स्वाभाविक रूप से सुनीता भाबी ने उनसे इस तरह के कृत्य की उम्मीद नहीं की थी और झपकी लेते हुए पकड़ी गई थी और उन्हें अपने स्तनों के निचोड़ को बर्दार्श्त पड़ा था।

सोनिआ भाबी: तुम? तुम बहुत शरारती और बदमाश हो !


रितेश ने इसे इतने कैजुअल और चंचल अंदाज में किया कि हम सब हंस पड़े। मैं इस कृत्य को भाबी के कमरे में कल रात के नाटक के साथ जोड़ने की कोशिश कर रही थी और मैं उन्हें आनंद लेने के लिए और अधिक मौका प्रदान करने के लिए उत्सुक थी ।

रितेश: ओये- हेलो । यहाँ आओ!

उसने रिक्शा वाले को इशारा किया जो किनारे पर खड़ा हमें देख रहा था।

सोनिआ भाबी: तुम उसे क्यों बुला रहे हो? मै पूरी गीली हूँ?

मैं: हाँ, तुम उसे यहाँ क्यों बुला रहे हो?

रितेश: ओह! तुम लोग बहुत परेशान हो! मेरे पास आज आनंद लेने की पूरी योजना है। वह बियर ला रहा है। यह बहुत मजेदार होगा, मुझे यकीन है।

सोनिआ भाबी: लेकिन?

मुझे अब एहसास हुआ कि यह एक सुनियोजित बात थी। उसने उस आदमी को बियर लाने के लिए पहले ही पैसे दे दिए थे

मैंने पीछे मुड़कर देखा कि वह आदमी अपनी लुंगी को लगभग कमर तक घुमा चुका था और हमारे पास आ रहा था।

रितेश: भाभी, पर क्या? वह आपको गीली हालत में देखेगा? क्या आप शर्मिंदा हो? मेरी प्यारी भाभी, क्या आप जानती हैं कि जब मैं कल उसके साथ आया था तो हमने यहाँ क्या देखा था?

सोनिआ भाबी: क्या?

रितेश: भाबी, आप चिंतित हैं कि आप इस गीले पोशाक में अच्छे नहीं लग रही हो ? लेकिन कल हमने दो विदेशी अधेड़ उम्र की महिलाओं को पूरी तरह से टॉपलेस समुद्र से बाहर आते देखा? वे सिर्फ जाँघिया पहने हुयी थी ! और वह भी बहुत गैर-मौजूद प्रकार- मतलब छोटी सी ? उस नज़रिये से भाभी, आप बहुत ढकी हुयी हो?

सुनीता भाबी कुछ कहने ही वाली थी, लेकिन रिक्शा वाला हाथ में बीयर की दो बोतलें और चेहरे पर एक बड़ी मुस्कान के साथ रितेश के पास आ गया ।

रितेश: धन्यवाद यार!

वह वहीं खड़ा रहा और अब हम दोनों को घूर रहा था। मेरी गीले कमीज में मेरे स्तन बहुत प्रमुख दिख रहे थे और मेरी पोशाक का निचला हिस्सा भी मेरी जांघों और गांड से चिपक रहा था और मेरे अंगो के आकर का पूरा नजारा हो रहा था। बस मैं नंगी नहीं थी और गीले कपडे पहने हुई थी । भाबी औ भी गंदी स्थिति में थी और उसके पतले ब्लाउज में से उजागर उसके निप्पल की छापों को स्पष्ट रूप से दिख रहे थे ! ब्लाउज के अंदर उसकी ब्रा ब्रा का पट्टा, कप, हुक, और इलास्टिक बैंड बहुत ही स्पष्ट थे!

रितेश ने अपने दांतों का उपयोग करके एक बोतल खोली और रिक्शा चलाने वाला भी दूसरे को खोलने के कार्य के बराबर सिद्ध हुआ । रितेश ने भाबी को बोतल थमा दी और उससे दूसरी ले ली और उसे निगलने लगा । एक बार में आधी बोतल खाली हो गई और फिर उसनेबाकी बोतल रिक्शा वाले को थमा दी।

रितेश: तुम भी एक घूंट लो!

रिक्शा चलाने वाला: ज़रूर साहब!

पलक झपकते ही बीयर की बोतल खाली हो गई और उसने उसे पानी में फेंक दिया और अपनी लुंगी को ठीक करने लगा। उसने अपनी लुंगी पहले से ही बहुत ऊँची उठा रखी थी और अब मुझे ऐसा लग रहा था कि वह अपनी लुंगी को जिस तरह से ऊपर उठाएगा, वह निश्चित रूप से हमारे सामने अपनी डंडी दिखायेगा। भाबी और मैं बीयर की दूसरी बोतल शेयर कर रहे थे। यह स्थानीय बियर काफी स्ट्रांग थी । हालांकि इसका स्वाद सबसे अच्छा नहीं था, लेकिन माहौल ने इसने हम सभी का मूड अच्छा बना दिया।इस सब के बीक मेरे लिए बेचैनी की एक ही हवा थी, हमारे बीच उस निम्न श्रेणी के रिक्शाचालक की उपस्थिति।

मुझे एहसास हुआ कि मेरे पैरों के नीचे पानी बढ़ रहा है और मैं रितेश को यह बताने वाली थी, लेकिन अचानक एक बड़ी लहर आई और पानी का स्तर काफी बढ़ गया और हमारी कमर तक आ गया। मुझे एहसास हुआ कि इस लहर के कारण मेरी पैंटी मेरी पोशाक के अंदर पूरी तरह से गीली हो गई है। भाबी अधिक गंदी स्थिति में दिखाई दी क्योंकि लहर ने उसके निचले हिस्से को पूरी तरह से भिगो दिया था और उसका गीला पेटीकोट खतरनाक रूप से नीचे की ओर खिसक गया था जिससे उनके सुडौल नितम्ब दिखाई दे रहे थे । जब तक वह सतर्क होती और आने कपडे संभालती तब तक दोनों पुरुष उसकी लाल पैंटी के ऊपरी किनारे को आसानी से ताक रहे थे।


जारी रहेगी
Reply
08-28-2022, 05:26 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - छटी सुबह

फ्लैशबैक- सागर किनारे

अपडेट-3


समुद्र की लहरे !




रिक्शा चलाने वाला : साहब मैं वापस किनारे पर आ जाऊँ या यहीं रहूँ? साहब ध्यान रखना , यह ज्वार का समय है।

मैं: अरे! तुम किनारे पर लौट आओ; हमारे कपड़े वहाँ हैं। साथ ही कैमरा ...

रितेश: लेकिन रश्मि ? आपने ध्यान नहीं दिया कि यहाँ किस तरह से समुद्र का प्रवाह बढ़ गया है! ऐसे में उसे आस पास रखना ही बुद्धिमानी है।

सोनिआ भाबी: हाँ रश्मि ! मुझे लगता है कि रितेश सही कह रहा हैं। देखो समुद्र तट बिल्कुल उजाड़ है। देखो! दूर दूर तक कोई नहीं है । ऐसे में कैमरा पूरी तरह से सुरक्षित है।

मैं पीछे मुड़ी और समुद्र तट बिलकुल खाली और सुनसान था।

मैं: ठीक है, उसे यहाँ रहने दो।

रितेश ने फिर एक चुटकुला सुनाया और हम सभी ने बहुत हँसी आयी और लहरदार समुद्री जल के साथ मेरी नाभि तक मेरी नाभि तक भीगी हुई मैं लगातार हंस रही थी । देसी तौर तेज बियर मुझ पर अपना असर कर रहा थी । रितेश हमारे मूड को खुशनुमा और चंचल बनाने लगा और वह लगातार बात कर रहा था और हमें हंसाने की कोशिश कर रहा था। मुझे एहसास हुआ कि जितना अधिक मैं हँस रही थी , उतना ही पानी में हिल रही थी और असंतुलित हो रही थी ; भाभी के साथ भी ऐसा ही था। हम महिलाओं के लिए स्थानीय निर्मित बीयर निश्चित रूप से थोड़ी बहुत तेज थी।

रितेश पानी में तरह-तरह की कलाबाजी करने लगा और वह भाबी के काफी करीब डुबकिया लगा रहा था। और उसने सुनीता भाबी का हाथ पकड़ लिया और उसे अपनी चंचल गतिविधियों में शामिल करने की कोशिश की और ऐसा करते हुए वह खुले तौर पर भाबी को अंतरंग भागों में छू रहा था। भाबी हंस रही थी और पूरी बात का आनंद ले रही थी। रितेश बोल्ड हो रहा था और भाबी को उसके कंधे, पेट, कमर पर छू रहा था, और दो बार मैंने देखा कि उसने उनके बड़े नितम्बो पर भी उसने विनोदी ढंग से चिकोटी काटी । कहने की जरूरत नहीं है कि सुनीता भाबी की ओर से कोई विरोध या बाधा नहीं थी।

जब मैं रिक्शा वाले की ओर मुड़ी तो मैंने देखा , वह स्वाभाविक रूप से उस दृश्य का आनंद ले रहा था और जाहिर तौर पर उनके करीब आ रहा था! अगले ही पल एक तेज लंबी लहर आई और हम सभी बड़ी लहर के लिए सतर्क नहीं थे । लहर ने हमें लगभग डुबो दिया और हम मुश्किल से अपने सिर को जल स्तर से ऊपर रख पाए। रितेश ने भाबी और मुझे अपने हाथों से पकड़ लिया और सौभाग्य से लहर बहुत जल्दी पीछे हट गई और सौभाग्य से उसके बाद जल्दी से कोई लहर नहीं आयी और इसलिए हम जल्दी से किनारे की और तो पीछे आये और खुद को पुनर्गठित किया।

अगली लहर जब आयी तो इस बार सोनिआ भाबी और मैं पूरी तरह से डूब गए थे, सचमुच नाक तक । मैं महसूस कर सकती थी कि मेरी ब्रा पूरी तरह से भीग रही है और ठंडे पानी से तुरंत मेरे निप्पल सूज गए हैं और मेरी ब्रा के अंदर सख्त हो गए हैं। मैंने पल भर में अपने स्तनों को नीचे देखा, मैं यह देखकर चौंक गई कि मेरे कामिज़ पर मेरे निप्पल के निशान स्पष्ट रूप से दिखाई दे रहे हैं! अचानक आई लहर ने हमें बहुत करीब ला दिया था और अब रितेश, सुनीता भाबी, रिक्शाचालक और मैं पानी में एक दुसरे के काफी करीब खड़े थे। जैसे ही मैंने ऊपर देखा, मेरी आँखें सीधे उस बदमाश रिक्शेवाले से मिलीं और वह मेरे बड़े गोल स्तनों को अचूक रूप से देख रहा था, जो मेरी गीली कमीज पर दिखाई देने वाले निप्पल के निशान के साथ बेहद सेक्सी लग रहे थे।

रितेश: चलो आगे बढ़ते हैं भाबी! असली रोमांच लहरों के साथ खेलने में है और यहाँ किनारे पर नहीं।

रिक्शा चलाने वाला : लेकिन साहब अभी ज्वार-भाटा है, ज्यादा आगे मत बढ़ो। अच्छे तैराक भी तेज प्रवाह की अंतर्धारा से निपटने में असमर्थ होते हैं।

रितेश: नहीं, नहीं, हम केवल कुछ ही कदम आगे जाएंगे । चलो भाभी! अनीता?

मैं: नहीं, नहीं रितेश। मैं रही ठीक हूं। तुम भाभी के साथ जाओ ।

रितेश: ठीक है जैसी तुम्हारी मर्जी। भाभी, आओ।

सोनिआ भाबी के अनुमोदन की प्रतीक्षा किए बिना, रितेश ने उसे अपने हाथ से खींचना शुरू कर दिया और समुद्र में और आगे बढ़ गया। भाबी ने हालांकि हल्का सा विरोध किया, लेकिन वह रितेश को रोकने के लिए बहुत नम्र था।

रिक्शा चलाने वाला : साहब, अगर आप कहो तो मैं साथ चलूँ?

रितेश: बेशक, आप एक विशेषज्ञ हो । हमारे पास रहो।

तो मैं घुटने से जांघ तक ऊंचे पानी में रही और भाबी, रितेश, और वह आदमी आगे बढ़ गए । जैसे ही भाबी मेरे पास से गुज़री, मैंने देखा कि उसकी पेटीकोट, यहाँ तक कि उसकी गांड की दरार से भी उसकी बड़ी-सी लहराती हुई गाँड साफ-साफ दिखाई दे रही थी। पेटीकोट पीछे से काफी नीचे खिसक गया था जिससे उसकी लाल पैंटी टॉप भी दिख रही थी! भाभी इस बात से पूरी तरह अनजान थी और दो आदमियों के साथ चल पड़ी।

रितेश को आखिरकार बहुप्रतीक्षित अवसर मिल ही रहा था कि उसने भाबी को कमर से पकड़ रखा था। मेरा दिल तेजी से धड़कने लगा क्योंकि मुझे कुछ गर्म देखने का अनुमान था और मैंने तुरंत एक या दो कदम आगे बढ़ाया ताकि मुझे एक पल स्पष्ट दिखे । जल्द ही एक लहर उनके पास आ रही थी और रितेश ने बस उसके आने का इंतजार नहीं किया और सुनीता भाबी को गले लगा लिया और उनके चिपके हुए शरीर पर पानी भर गया। जैसे-जैसे लहर कम हुई, वे जल्दी से अलग हो गए, लेकिन रितेश का दाहिना हाथ अभी भी भाबी की पीठ को घेरे हुआ था और उसका हाथ उनकी कांख के नीचे चला गया और निश्चित रूप से वो भाभी के दाहिने स्तन को सहला रहा था। मैं यह नहीं देख पा रहा था क्योंकि उनकी पीठ हमारी ओर थी। मैंने देखा कि रिक्शा वाला भाबी के पास खड़ा सब कुछ देख रहा था ।

एक अनजान आदमी के सामने सोनिआ भाबी की बेशर्मी देखकर मैं थोड़ा हैरान थी ! मैं अच्छी तरह से समझ गयी थी कि उनको अपने पति से उचित शारीरिक ध्यान नहीं मिल रहा था और इसलिए वो इसे चाह रहे थी और रितेश एक कुंवारा लड़का जो की उनके उभारो को देख कर आकर्षित था , लेकिन उन दोनों को शालीनता बनाये रखनी चाहिए थी ! वह अनजान आदमी आपसे कुछ ही फीट की दूरी पर खड़ा था और भाबी रितेश को खुलेआम अपने स्तनों को निचोड़ने दे रही थी !

सोनिआ भाबी हँस रही थी क्योंकि लहरें लगातार उन्हें भीगा रही थीं और अब वह भी प्रेमियों की तरह रितेश को करीब से पकड़ रही थी । मैंने देखा कि रितेश बार-बार अपना बायाँ हाथ भाबी के ललाट क्षेत्र की ओर ले जा रहा था और मुझे आश्चर्य हो रहा था कि वह क्या कर रहा था वो जरूर उनके दूसरे स्तन को भी निचोड़ रहा होगा और दबा रहा होगा, जिसे मैं देख नहीं पा रही थी ।

वे और आगे बढ़े और मुझे भी एक कदम आगे बढ़ाना पड़ा ताकि मैं भी हर क्रिया को करने के लिए आस-पास ही रहूं। अब दो-दो विशाल लहरें एक साथ आ रही थीं, और जो वो उनपर से गुजरी तो मैं केवल उनके सिर देख सकती थी क्योंकि वो दोनों ऊँची औरर तेज लहरे थी। मैंने भाबी को चिल्लाते हुए सुना और लहर में तैरते हुए रितेश ने उसे कसकर गले लगा लिया।
!
सोनिआ भाबी: हाय! इस्सस! रिटेशहहह! मुझे सम्भालो ... . उईईई!

सच कहूं तो उस समय मुझे समझ नहीं आ रहा था कि सोनिआ भाबी की समस्या क्या है। वह रितेश की गोद में थी और संतुलित भी थी। रितेश अब बहुत खुलेआम भाबी के ब्लाउज के अंदर गीले हो चुके स्तनों को बगल से सहला रहे थे।

रितेश: अरे, क्या हुआ?

सोनिआभाबी : ओइइइइइइइइइइ माँ! क्या कर रहे हो ? ईईआई !

अचानक मैंने देखा कि कुछ दूरी पर पानी में कुछ तैर रहा है।

यह सुनीता भाबी का पेटीकोट थी!

लहरें इतनी जोरदार थीं कि भाबी जहां वह खड़ी थी उस रेत के तल से हटा दिया गया होगा और पेटीकोट पूरी तरह से गीला होने के कारण भारी हो गया था और गाँठ ढीली हो गई होगी, और रितेश की गोदी और बाहो में जब वो में संतुलित हुई तो यह उनके पैरों से नीचे फिसल कर निकल गया था। अब वो सिर्फ अपने ब्लाउज और पैंटी में दो आदमियों के सामने खड़ी थी! गनीमत रही कि पानी उसकी कमर तक ढका हुआ था। जैसे ही वह खड़ी हुई , मेरी आँखें स्वतः ही उनके नारियल जैसे स्तनों की ओर आकर्षित हो गईं और कोई भी उसके पूर्ण आकार के सूजे हुए निपल्स को उसके ब्लाउज के माध्यम से स्पष्ट रूप से देख सकता था और उनका ब्लाउज भीगने के कारण लगभग न के बराबर था।

रितेश: ओह! आये होये ! आपका पेटीकोट?. भाबी, आपका पेटीकोट चला गया है! हा हा हा ! हो हो हो!

मैंने दूर से देखा की भाबी का चेहरा शर्म से लाल हो गया था और उसने दो पुरुषों के सामने अपनी उजागर अवस्था को महसूस करते हुए पानी की ओर देखा।

रिक्शा चलाने वाला : मैडम मैंने आपको करंट के बारे में चेतावनी दी थी। जरा रुकिए मैडम, मुझे इसे बहने से पहले इकट्ठा करने दीजिए।

वह पानी में तैरा और भाबी का पेटीकोट उठाया, जो इतने कम समय में पानी पर कुछ दूरी तय कर चुका था। वह वापस आया और उसे भाबी को सौंप दिया।

रितेश: भाभी आप पानी में खड़ी होकर इसे कैसे पहनेंगी? असंभव।

सोनिआ भाबी: लेकिन? लेकिन रितेश मैं इस तरह खुले में खड़ा नहीं रह सकती ?

रितेश: चिंता मत करो भाबी! मैं जाँच करता हूं? उह! कुछ भी नहीं देखा जा सकता है? पानी आपको पर्याप्त रूप से छुपा रहा है। हा हा?

सोनिआ भाबी: बस चुप रहो! कुछ शर्म करो।

रितेश: ठीक है, ठीक है। मैं आपको पकड़ता हूँ और फिर आप इसे पहनने की कोशिश करो।

चूँकि मैं थोड़ा पीछे खड़ी थी , उन्होंने मेरी उपस्थिति को नज़रअंदाज़ कर दिया, लेकिन मैं सब कुछ सुन और देख सकती थी । रितेश ने सोनिआ भाबी को पीछे से पकड़ लिया और भाबी ने एक पैर ऊपर उठाया और पेटीकोट के छेद में डालने की कोशिश की। मैं रितेश को पूरी मस्ती करते हुए देख रही थी भाबी अपने क्रॉच और गोल गांड को पेटीकोट में धकेल रही थी और सहारे के नाम पर रितेश उसके पूरे स्तन को दोनों हाथों से दबा रहा था । भाबी पेटीकोट पहनने और अपनी गरिमा बचाने के लिए इतनी उत्सुक थी कि उसने ध्यान ही नहीं दिया कि ज्वार के कारण समुद्र का जल स्तर बढ़ रहा है।

एक तेज लहर ने उन्हें एक बार फिर झकझोर दिया और भाबी रितेश की पकड़ से फिसल गई और कुछ क्षण के लिए पानी में स्वतंत्र रूप से तैरने लगी। वह अब पूरी तरह से एक्सपोज हो चुकी थी और उसकी गोरी नंगी जांघें और पैंटी सभी को दिखाई दे रही थी। वह रितेश से दूर जा रही थी जो पानी में लड़खड़ा रही थी और तभी रिक्शा वाला उसके बचाव में आ गया। उसने तेजी से भाबी को दूर जाने से रोक लिया। उसने जल्दी से उन्हें वापस खींच लिया और भाबी को गले लगा लिया ताकि वह गिर न जाए। इस प्रक्रिया में उसने भी मौके का फायदा उठाया और भाबी के परिपक्व स्तनों को पकड़ा और उसके भारी नितंबों को कई बार सहलाया। उस आदमी की त्वचा का रंग काला था और उसके काले हाथ सोनिया भाबी के गोरे शरीर पर अधिक स्पष्ट थे।


जारी रहेगी


NOTE





1. अगर कहानी किसी को पसंद नही आये तो मैं उसके लिए माफी चाहता हूँ. ये कहानी पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी से कोई लेना देना नही है . मेरे धर्म या मजहब  अलग  होने का ये अर्थ नहीं लगाए की इसमें किसी धर्म विशेष के गुरुओ पर या धर्म पर  कोई आक्षेप करने का प्रयास किया है , ऐसे स्वयंभू गुरु या बाबा  कही पर भी संभव है  .



2. वैसे तो हर धर्म हर मज़हब मे इस तरह के स्वयंभू देवता बहुत मिल जाएँगे. हर गुरु जी, बाबा  जी  स्वामी, पंडित,  पुजारी, मौलवी या महात्मा एक जैसा नही होते . मैं तो कहता हूँ कि 90-99% स्वामी या गुरु या प्रीस्ट अच्छे होते हैं मगर कुछ खराब भी होते हैं. इन   खराब आदमियों के लिए हम पूरे 100% के बारे मे वैसी ही धारणा बना लेते हैं. और अच्छे लोगो के बारे में हम ज्यादा नहीं सुनते हैं पर बुरे लोगो की बारे में बहुत कुछ सुनने को मिलता है तो लगता है सब बुरे ही होंगे .. पर ऐसा वास्तव में बिलकुल नहीं है.





3.  इस कहानी से स्त्री मन को जितनी अच्छी विवेचना की गयी है वैसी विवेचना और व्याख्या मैंने  अन्यत्र नहीं पढ़ी है  .



4. जब मैंने ये कहानी यहाँ डालनी शुरू की थी तो मैंने भी इसका अधूरा भाग पढ़ा था और मैंने कुछ आगे लिखने का प्रयास किया और बाद में मालूम चला यह कहानी अंग्रेजी में "समितभाई" द्वारा "गुरु जी का (सेक्स) ट्रीटमेंट" शीर्षक से लिखी गई थी और अधूरी छोड़ दी गई थी।





बाद में 2017 में समीर द्वारा हिंदी अनुवाद शुरू किया गया, जिसका शीर्षक था "एक खूबसूरत हाउस वाइफ, गुरुजी के आश्रम में" और लगभग 33% अनुवाद "Xossip" पर किया गया था।

अभी तक की कहानी मुलता उन्ही की कहानी पर आधारित है या उसका अनुवाद है और कुछ हिस्सों का अनुवाद मैंने किया है ।

कहानी काफी लम्बी है और मेरा प्रयास जारी है इसको पूरा करने का।
Reply
08-28-2022, 05:27 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - छटी सुबह

फ्लैशबैक- सागर किनारे

अपडेट-4


समुद्र की तेज और बड़ी लहरे !



समुद्र की तेज और बड़ी लहरों के कारणों रितेश की हालत भी खराब थी और वह लगातार लहरों से उबरने के लिए संघर्ष कर रहा था। रिक्शेवाले ने देखा कि सोनिआ भाबी थक चुकी थी और खारे पानी को पी रही थी, उसने भी इस मोटी सेक्सी गृहिणी को बिना मजे लिए छोड़ा नहीं । मैंने साफ़ देखा कि उसने भी इस मौके का पूरा नाजायज फायदा उठाया और वह अब सीधे भाबी को आगे से गले लगा रहा था जैसे कि उसका समर्थन कर रहा हो और उन्हें उनके कूल्हों से पकड़ रहा था । भाबी अभी भी ठीक से खड़े होने के लिए संघर्ष कर रही थी और वह उसकी बाँहों को पकड़ रही थी और मैंने देखा कि वह सामने से उन्हें अपने छाती पर दबा रहा था और उनके रसीले स्तनों को अपने सीने पर दबाए जाने का आनंद ले रहा था।

अंत में रितेश जब सम्भल गया तो उसने भाबी का पेटीकोट, जो समुद्र में तैर रहा था, उसे उठाया और उनके पास आया।

रितेश: भाबी, मेरी गलती थी । मुझे पहली ही उसकी मदद लेनी चाहिए थी। क्या अब आप ठीक हैं?

भाबी ने बस सिर हिलाया और रिक्शा वाले ने उनका हाथ रितेश को सौंप दिया। मैंने देखा कि भाबी के बूब्स उनके ब्लाउज से लगभग बाहर निकल आए थे। उनका ब्लाउज और ब्रा पूरी तरह से गीला होने के कारण काफी नीचे खिसक गया था और उसके बड़े स्तन दोनों पुरुषों के सामने लगभग आधे नग्न थे।

रितेश: ये रहा आपका बेशकीमती पेटीकोट! यह फिर से फिसल गया। बहुत शरारती लगता है? हा हा हा?

रिक्शा चलाने वाला : मुझे दे दो साहब, मैं संभाल लूंगा; मैं तो पहले ही कह रहा था की मैडम इसे पानी पहन कर दिक्कत महसूस करेंगी ।

रितेश: ठीक है। भाभी चलो फिर चलते हैं। बहुत मजा आया, क्या विचार है ?

सोनिआ भाबी: नहीं, नहीं? तुम जाओ। मैं अब और नहीं कर सकती !

मैंने देखा किरिक्शेवाले ने भाबी के गीले पेटीकोट को मोड़ा और उसकी लुंगी के अंदर डाल लिया ! रिक्शा वाले की लुंगी के अंदर गृहिणी का अंदरूनी पहनावा चला गया !

रितेश: ओह! भाबी। इस बार कोई अनहोनी नहीं होगी। वह भी वहीं रहेगा। प्लीज चलो . यहाँ मजे करने ही तो आये हैं ?

यह कहते हुए कि उसने भाबी को विरोध करने की गुंजाइश नहीं दी और उसे अपने हाथ से समुद्र में खींच लिया। मैं देख सकती थी कि भाबी अनिच्छुक और झिझक रही थी, लेकिन रितेश को रोक नहीं सकी ।

रितेश: अरे तुम, भाभी आप उसका दूसरा हाथ क्यों नहीं पकड़ती ? इस तरह भाभी आप बिल्कुल सेफ रहेंगी।

रिक्शाचालक भी सोनिआ भाबी का हाथ पकड़ने के लिए बेताब था और मेरी आंखों के सामने उन दो आदमियों ने सुनीता भाबी को पकड़ कर समुद्र में कुछ और आगे छलांग लगा दी । यह नजारा देखकर मेरा दिल धड़क रहा था और मैंने कुछ कदम आगे बढ़ गयी ताकि मैं भी कार्रवाई को स्पष्ट रूप से देख सुन सकूं।

रितेश: भाभी ? बेहतर होगा कि आप सतर्क रहें? देखो! एक बड़ी लहर आ रही है।

यह कहते हुए कि उन्होंने भाभी को कसकर गले लगा लिया जैसे वे प्रेमी हों! मैंने देखा कि भाबी भी बेबस होकर उससे लिपट गई थी, क्योंकि वह अभी भी पिछली घटना से पूरी तरह उबर नहीं पाई थी।

रितेश: अरे तुम! तुम खाली क्यों खड़े हो? इन्हे पीछे से पकड़ो।

अब मैंने अपने जीवन का सबसे अविश्वसनीय दृश्य देखा जब उस रिक्शेवाले ने भाबी को पीछे से गले लगा लिया। लहर आयी तो दो आदमी भाबी को गले लगा रहे थे। मैं यह देखने के लिए की क्या हो रहा है मैं इतनी उत्सुक था कि मैं दो कदम और आगे बढ़ गयी !

हे भगवान! मुझे देख कर विश्वास ही नहीं हुआ . रितेश अब सोनिआ भाबी को गले लगाए हुए उसके होठों पर चूम रहा था और रिक्शा वाले के दोनों हाथ पीछे से भाबी की कांख के नीचे थे और स्पष्ट था कि वह क्या कर रहा था। सबसे अधिक गौर तलब बात यह थी कि लहर के थमने और घटने के बाद भी, दोनों आदमी सुनीता भाबी के शरीर से चिपके रहे, एक सामने से और दूसरा पीछे से। जैसे ही अगली लहर आई, मैंने देखा कि रितेश भाबी को उसके कंधों और गर्दन पर किस कर रहा था और उसके हाथ उसकी पीठ से उसके भारी नितंबों की ओर खिसक गए। रिक्शा वाले ने जगह बनाई ताकि रितेश भाबी के मांसल गांड पर अपना हाथ रख सके। मैंने सोच रही थी की क्या भाबी की मानसिक स्थिति इस समय क्या होगी जब दो आदमी एक साथ उनका सेक्सी बदन टटोल रहे थे, लेकिन उसने देख कर लग रहा था की वह पूरी तरह से शारीरिक स्पर्श का आनंद ले रही थी

जैसे ही लहर कम हुई, मैंने देखा कि रितेश ने तुरंत भाबी को छोड़ दिया और अपने शॉर्ट्स खोलने लगे! मैं सन्न थी की उसकी अगली योजना क्या है? चूंकि वहां पानी बहुत अधिक था, इसलिए मैं यह पता नहीं लगा सकी कि वह नग्न है या नहीं! उसने अपनी शॉर्ट्स रिक्शा वाले को थमा दी और उसने जल्दी से उसे वहीं डाल दिया जहाँ उसने भाबी का पेटीकोट रखा था। रितेश ने फिर से भाबी को गले लगाया, लेकिन इस बार भाबी विरोध करती दिख रही थी, लेकिन यह बहुत ही अल्पकालिक था क्योंकि अगली लहर ने उसकी आपत्ति को धो दिया। जिस तरह से रितेश भाबी को गले लगा रहा था और जिस मुद्रा में वह था, मुझे यकीन था कि रितेश नग्न था और वह भाबी की चूत पर अपना लंड दबाने की कोशिश कर रहा था। रिक्शाचालक भी भाबी के विशाल गाण्ड में अपना लिंग क्षेत्र अपनी लुंगी के साथ दबा रहा था।

लहर के पीछे हटने के तुरंत बाद, रितेश ने भाबी को कुछ कदम पीछे धकेल दिया, जहां पानी का स्तर थोड़ा कम था और रिक्शा वाले को उसे छोड़ने का संकेत दिया। भाबी पूरी तरह से भीगने से बहुत उत्साहित थी और दो परिपक्व पुरुषों लगातार उसके अर्धनग्न बदन के साथ चिपक रहे थे. रितेश ने बस फिर उन्हें अपनी ओर खींच लिया और खुलेआम फिर से बहुत ही जोश से किस करना शुरू कर दिया। क्षण भर बाद मुझे उसकी योजना का एहसास हुआ। उसका हाथ भाबी की कमर पर फिसल गया और वह उनकी पैंटी को नीचे खींचने की कोशिश कर रहा था! मैं चौंक गयी और सोच रही थी कि आगे भाबी क्या करेगी। क्या वह सेक्स के लिए अपनी भूख बुझाने के लिए इस तरह खुले में नग्न होने का साहस करेगी?

सोनिआ भाबी इस कार्रवाई पर बहुत सतर्क थी और स्पष्ट रूप से इसके खिलाफ संघर्ष कर रही थी। रितेश ने उसके मोटे होंठों को लगातार चूसते हुए उसे कुछ और कदम पीछे धकेला और अब भाबी की कमर पानी के स्तर से ऊपर थी और उसकी लाल पैंटी स्पष्ट रूप से देखी जा सकती थी।

मैं: उफ़!

मेरे मुँह खुला रहा गया और अगला दृश्य देखकर मैं लगभग काँप उठी । रितेश एकदम नंगा था और उसका लंड बड़े पके केले की तरह बाहर निकला हुआ था। उसकी जांघो के बीच बालों का घना जंगल बहुत स्पष्ट था। वह भाबी की बाहों से बचने की कोशिश कर रहा था और पैंटी को उसके बड़े नितम्बो से नीचे सरकआने लगा । कोई भी महिला, चाहे विवाहित हो या अविवाहित, अपने पति के साथ भी खुले में नग्न नहीं होना चाहेगी, और भाबी भी कोई अपवाद नहीं थी।

रितेश: भाबी, । यहाँ कोई नहीं है।

सोनिआ भाबी: नहीं, नहीं?. तुम पागल हो क्या?

रितेश: भाबी प्लीज?. देखिए मैंने भी अपना ब्रीफ खोला है? इसे महसूस करें।

यह कहते हुए कि उसने भाबी का दाहिना हाथ लिया और उसे अपने नग्न लंड पर निर्देशित किया। जैसे ही भाबी अपनी कठोर मर्दानगी की महसूस किया वो पल भर में मंत्रमुग्ध हो गई और उत्तेजित होने लगी , रितेश ने अपनी पैंटी को उसके नितंबों से आधा नीचे कर दिया।

सोनिआ भाबी: नहीं प्लीज रुको !

भाबी ने तुरंत अपनी पैंटी को अपनी कमर तक वापिस खींचने की कोशिश की, लेकिन रितेश अब बल प्रयोग कर रहा था और एक संघर्ष मेरे सामने हो रहा था। भाबी रितेश के साथ झगड़ रही थी, जबकि उसकी मक्खन के रंग की बड़ी गोल गांड आधी खुली हुई थी। भाबी सचमुच एक रंडी की तरह दिख रही थी? उनके आधे से अधिक स्तन का मांस उसके गीले ब्लाउज के ऊपर खुला हुआ था और उनकी पैंटी उनके बड़े गोल कूल्हों से आधी नीचे की ओर खींची जा रही थी जिसे वो दूसरी तरफ से पकड़ कर ऊपर खींच रही थी । रिक्शावाले की निगाह उस पर स्वाभाविक रूप से थी और मैं यह देखकर चौंक गया कि वह अपनी लुंगी के अंदर खुलेआम अपने लंड को सहला रहा है !

रितेश: भाबी, प्लीज?

सोनिआ भाबी: रितेश, नहीं? कृपया ये मत करो ?

रितेश: अरे तुम मजे ले रहे हो ? देख क्या रहे हो एह? इनके हाथ पकड़ो।

वह आदमी मानो फिर से अवसर की प्रतीक्षा कर रहा था और तुरंत भाबी पर कूद पड़ा और उनके संघर्षरत हाथों को कस कर पकड़ लिया।

सोनिआ भाबी: रितेश? नहीं नहीं? कृपया ऐसा न करें?. मैं एक विवाहित महिला हूँ? कृपया?

भाबी की दलीलें रितेश बहरे कानों तक पड़ीं और रितेश ने झुककर आसानी से अपनी पैंटी को उनकी कमर से नीचे खींच लिया, अपने गोल नितंबों, चिकनी जांघों और अंत में उनके पैरों से बाहर कर दिया। फिर उसने जो किया वह और भी आश्चर्यजनक था! उसने पैंटी को गुच्छा बनाया और उसे दूर समुद्र में दूर फेंक दिया। भाबी अपने शरीर के निचले हिस्से पर बिना धागे के रिक्शाचालक के हाथों में फंसी रही। अब हम सब उसकी चूत के ठीक ऊपर रेशमी, काले, भूरे झांटो के बालों के झुंड की झलक देख सकते थे, जो सौभाग्य से पानी के नीचे था।

सोनिआ भाबी: ईई? क्या? क्या तुम पागल हो गए हो ? क्या कर रहे हो ?

रितेश: तुम इतनी चिंतित क्यों हो? मैं आपको बाजार से एक पैंटी खरीद दूंगा । खुश ?

रिक्शा चालक अब फिर से हरकत में आ गया और यह महसूस करते हुए कि उसे अब भाबी के हाथ पकड़ने की जरूरत नहीं है, उसने उसके ब्लाउज पर उसके बड़े रसदार स्तनों के पीछे से पकड़ना शुरू कर दिया। स्वाभाविक रूप से भाबी पहले से ही रितेश के वर्तमान व्यवहार से काफी चिढ़ गई थी और जब उसे लगा कि रिक्शा वाले ने उसके स्तन पर हाथ रखा है, तो वह फट गई। एक ही झटके में वह पीछे मुड़ी और उस आदमी को बहुत जोर से थप्पड़ मारा।

सोनिआ भाबी : काफ़ी समय से मैं तुम्हें सह रही हूँ। तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मुझे इस तरह छूने की?

उस व्यक्ति को इस तरह की प्रतिक्रिया की कभी उम्मीद नहीं थी क्योंकि भाबी ने उसे नहाते समय बहुत अधिक छूट दे दी था और बिल्कुल हतप्रभ लग रहा था।

रितेश: भाबी, भाबी। प्लीज शांत हो जाओ। आप अपना गुस्सा उस पर क्यों निकाल रही हो?

सोनिआ भाबी: तुम इस आदमी से ठीक से व्यवहार करने के लिए कहो।

जारी रहेगी


NOTE





1. अगर कहानी किसी को पसंद नही आये तो मैं उसके लिए माफी चाहता हूँ. ये कहानी पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी से कोई लेना देना नही है . मेरे धर्म या मजहब  अलग  होने का ये अर्थ नहीं लगाए की इसमें किसी धर्म विशेष के गुरुओ पर या धर्म पर  कोई आक्षेप करने का प्रयास किया है , ऐसे स्वयंभू गुरु या बाबा  कही पर भी संभव है  .



2. वैसे तो हर धर्म हर मज़हब मे इस तरह के स्वयंभू देवता बहुत मिल जाएँगे. हर गुरु जी, बाबा  जी  स्वामी, पंडित,  पुजारी, मौलवी या महात्मा एक जैसा नही होते . मैं तो कहता हूँ कि 90-99% स्वामी या गुरु या प्रीस्ट अच्छे होते हैं मगर कुछ खराब भी होते हैं. इन   खराब आदमियों के लिए हम पूरे 100% के बारे मे वैसी ही धारणा बना लेते हैं. और अच्छे लोगो के बारे में हम ज्यादा नहीं सुनते हैं पर बुरे लोगो की बारे में बहुत कुछ सुनने को मिलता है तो लगता है सब बुरे ही होंगे .. पर ऐसा वास्तव में बिलकुल नहीं है.





3.  इस कहानी से स्त्री मन को जितनी अच्छी विवेचना की गयी है वैसी विवेचना और व्याख्या मैंने  अन्यत्र नहीं पढ़ी है  .



4. जब मैंने ये कहानी यहाँ डालनी शुरू की थी तो मैंने भी इसका अधूरा भाग पढ़ा था और मैंने कुछ आगे लिखने का प्रयास किया और बाद में मालूम चला यह कहानी अंग्रेजी में "समितभाई" द्वारा "गुरु जी का (सेक्स) ट्रीटमेंट" शीर्षक से लिखी गई थी और अधूरी छोड़ दी गई थी।





बाद में 2017 में समीर द्वारा हिंदी अनुवाद शुरू किया गया, जिसका शीर्षक था "एक खूबसूरत हाउस वाइफ, गुरुजी के आश्रम में" और लगभग 33% अनुवाद "Xossip" पर किया गया था।

अभी तक की कहानी मुलता उन्ही की कहानी पर आधारित है या उसका अनुवाद है और कुछ हिस्सों का अनुवाद मैंने किया है ।

कहानी काफी लम्बी है और मेरा प्रयास जारी है इसको पूरा करने का।
Reply

08-28-2022, 05:29 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - छटी सुबह

फ्लैशबैक- सागर किनारे

अपडेट-5


नज़ारे 



रितेश: भाबी आप भूलो मत कि जब आप लहरों में बह गयी थी तो उसने तुम्हें बचाया था।

सुनीता भाबी: हुह! बदमाश कहीं का ! तो क्या इसका मतलब उसे बदमाशी की छूट मिल गयी है मेरा पेटीकोट वापस दे दो !

रितेश: भाबी, कृपया शांत हो जाओ। अपना मूड मत ख़राब करो ? हम यहाँ मनोरंजन के लिए तो आए हैं! प्लीज छोड़ो भाभी!

यह कहते हुए कि उसने प्यार से सोनिया भाभी को गले लगा लिया। वो उनके कानों में भी कुछ फुसफुसाया। रितेश जिस तरह से उसे गले लगा रहा था और उसे छू रहा था, उसे देखकर मैं दंग रह गयी यह इतना सामान्य था मानो वह उनका पति हो! भाबी शायद रितेश के सीधे लंड को अपनी चूत पर छूने से ठंडी हो गई थी । मुझे ज्ञात था की भाभी लंड और सेक्स के लिए तरसती हुई एक महिला है इसलिए मैं कुछ कुछ उनकी मनस्थिति समझ रही थी . मैं समुद्र के पानी के ऊपर रितेश और भाबी के नग्न नितंबों की झलक देख सकती थी । रितेश ने धीरे से उसे अपनी बाहों में लेकर फिर से गहरे समुद्र की ओर ले लिया और उसने चुपके से रिक्शा वाले को उनका पीछा करने का संकेत दिया।

लगभग एक या दो मिनट में सब कुछ सामान्य हो गया! भाबी फिर से हँस रही थी और रितेश के प्यार भरे आलिंगन में थी।

रिक्शा चलाने वाला : साहब, जो करना है जल्दी करो, क्योंकि कुछ देर बाद लोग आना शुरू हो जाएंगे ।

सोनिया भाबी: माई गॉड! चलो फिर लौट चलते हैं। रितेश? कृपया? मैं पूरी तरह से नग्न हूँ? मैं इस तरह किसी के सामने नहीं जा सकती !

रिक्शा-चालक : महोदया सही कह रही है साहब! हालांकि मैंने कई विदेशी महिलाओं को बिलकुल नंगी पानी से बाहर निकलते देखा है? कल मैंने आपको कुछ नज़ारे भी दिखाए थे साहब? लेकिन मैडम ऐसा नहीं कर सकतीं।

रितेश: हम्म। लेकिन भाबी, आप उन विदेशी महिलाओं से काम या बहुत पीछे नहीं हैं, अगर आप अपना ब्लाउज उतार दें तो आप अपनी विदेशी समकक्षों के साथ भी प्रतिस्पर्धा कर सकती है बल्कि मैं तो कहता हूँ आप उनकी मात दे सकती हैं ! हा हा?

सोनिआ भाबी: तुम? बदमाश हो पक्के !

सोनिआ भाबी : रितेश कल आपने यहाँ क्या लजीज नजारा देखा, मुझे भी बताएं.

रितेश: कुछ खास नहीं। बेशक इससे ज्यादा कुछ नहीं?

यह कहते हुए कि उसने अपना दाहिना हाथ भाबी की चूत के पास में खिसका दिया और हालाँकि आगे मैं नहीं देख सकती थी क्योंकि हाथ पानी स्तर पर्याप्त था और हाथ पानी के अंदर था , लेकिन रितेश के हाथ की हरकत से भाबी को उसकी चूत पर जो दुलार मिल रहा था, उसे आसानी से पहचाना जा सकता है। रितेश का शरीर तुरंत झुक गया और वह उस व्यक्ति के सामने उसके प्रेम स्थान पर उसे सहलाता रहा। भाबी बड़ी बेशर्मी से ठहाका लगा रही थी और यह देखकर कि मैं बस अपने भीतर चिल्लायी और सोचा कि अगर मनोहर अंकल ने अपनी पत्नी के इस व्यवहार को देखा होता, तो उन्हें मौके पर ही दिल का दौरा पड़ा होता।

सुनीता भाबी: अरे रुको वह देख रहा है। मुझे बताओ तो सही तुमने क्या देखा ?

भाबी ने ऐसा व्यवहार किया जैसे वह एक किशोरी थी और रितेश उसका प्रेमी था।

रितेश: ठीक है? ठीक। दरअसल कल जब हम इस जगह से निकल रहे थे तो हमने पानी से बाहर आ रही एक विदेशी महिला को देखा जो दूसरों से बिल्कुल अलग थी। उसने ब्रा नहीं पहनी हुई थी, लेकिन नीचे बिल्कुल नंगी थी! अन्य सभी विदेशी महिलाएं जिन्हें हमने कल देखा था, उन्होंने या तो बिकनी पहनी हुई थी या कम से कम एक पैंटी पहनी हुई थी । लेकिन यह अधेड़ उम्र की महिला सभी को अपनी चुत दिखा रही थी, हालांकि समुद्र तट पर विदेशियों के अलावा कोई नहीं था। हमने वास्तव में झाड़ियों में से चुप कर झाँका।


सोनिआ भाबी पर आपके मुकाबले वो तो बच्ची थी भाबी? मेरा मतलब है आपकी छूट के हिसाब से हालांकि मैंने अभी तक आपका स्वाद नहीं चखा है?

रितेश: तुम? तुम ठग! मैं तुम्हें मार डालूँगी ?

भाबी और रितेश के बीच एक नकली लड़ाई शुरू हो गई और ऐसा करते हुए रितेश ने सुनीता भाबी को आगे और पीछे दोनों तरफ से गले लगाने से लेकर, उसके नितंबों को सहलाने और महसूस करने, उसके स्तनों को दबाने और उसकी जांघों को सहलाने से लेकर लगभग हर जगह छुआ और क्या नहीं किया ।

तभी अचानक मुझे एक चीख सुनाई दी! स्पष्ट रूप से यह भाबी की आवाज थी!

मैंने देखा कि सोनिआ भाबी ने रितेश को अपने शरीर से दूर धक्का दे दिया और वह लगभग एक पैर पर पानी में नाच रही थी और चिल्ला रही थी।

रितेश: क्या हुआ भाबी? क्या हुआ?

रिक्शा-चालक : महोदया? क्या हो रहा है?

भाबी: कुछ मुझे काट रहा है? ओह! मेरे पैर में! ऊउउउउउओओ?. यह मेरे पैर के अंगूठे में छेद कर रहा है रितेश? आह? मदद करो मेरी !

रिक्शा चलाने वाला: हे भगवान! मुझे आशा है कि यह जीव है। साहब झटपट महोदया को उथले पानी में ले जाओ! जल्दी करो साहब! ।

रितेश: ठीक है, तुम मुझे एक हाथ दो।

रितेश और रिक्शा वाले ने भाबी को पकड़ लिया और जल्दी से उथले पानी में वापस आ गए। वे मेरे बहुत करीब थे और मैंने भी बीच-बचाव किया।

मैं: भाबी को क्या हुआ?

रितेश: उसे किसी ने काट लिया था? मैं ठीक से नहीं जानता।

सोनिआ भाबी: यह अभी भी वहीं है?. उहह्ह्ह! माँ। यह मेरे पैर की अंगुली पर चिपक रहा है।

भाबी दर्द से कराह रही थी और रितेश उनके हाथ पकड़ रहा था जबकि रिक्शा वाला उनके पैर पकड़ रहा था। जैसे ही वे तेजी से पीछे हटे, पानी का स्तर कम होता जा रहा था और तुरंत भाबी को अपनी कमर के नीचे नग्नता के बारे में बहुत होश आया।

सुनीता भाबी: ईआई? विराम! विराम! और पीछे मत जाओ? कृपया।

मैं क्यों? यहां पानी अभी भी ज्यादा है। वहां पर आपका पैर देखना आसान होगा।

मैंने किनारे की ओर इशारा किया और जानबूझ कर यह सवाल पूछा, क्यों भाभी ? मानो मैं इस बात से अनजान थी कि उन्होंने पेटीकोट और पैंटी नहीं पहनी हुई थी।

सुनीता भाबी: नहीं, नहीं? मेरा मतलब है? वास्तव में?

रितेश: दरअसल रश्मि , तुम्हें पता है, लहरें इतनी तेज हैं कि किसी तरह भाबी का पेटीकोट बह गया और इसलिए उन्हें शर्म आ रही है। लेकिन मेरे लिए भी ऐसा ही था? मैंने भी अपने शॉर्ट्स को खो दिया । क्या करें? लहरें अभी बहुत तेज हिंसक हैं।

मैं: हे! समझी ।

मैंने बहुत ही मासूमियत से और सामान्य रूप से जवाब दिया ताकि वे असहज महसूस न करें।

मैं: शर्म मत करो भाबी। यहाँ केवल हम ही हैं! यहां और कोई नहीं है।

रिक्शाचालक और रितेश तेजी से भाभी को किनारे पर ले जा रहे थे और मैं उनका पीछा करने लगी । जैसे ही वे किनारे के पास पहुँचे, यहाँ पानी का स्तर काफी नीचे था और दिन के उजाले में भाबी की नग्न गांड, चुत और टाँगे पूरी तरह से हम सभी के सामने आ गए थे। वह अपनी कमर के नीचे पूरी तरह से नंगी थी और हवा में लटकी हुई थी, जिसे दो आदमी हाथ और पैर पकड़कर चल रहे थे।

दृश्य बस कमाल था! एक परिपक्व विवाहित महिला को इस तरह देखना अविश्वसनीय था! मैंने देखा कि भाबी ने अपनी आँखें बंद कर ली थीं, शायद शर्म से। अब हम उसके बाएं पैर के अंगूठे से चिपके हुए एक छोटे लाल जीव और उस क्षेत्र में खून के थक्के को भी देख सकते थे ।

रिक्शा-चालक: साहब जैसा कि मैंने अपेक्षा की थी, यह एक जीव है। वे बहुत खतरनाक हैं।

रितेश: लेकिन हमारे पास यहाँ कोई दवा नहीं है! और भाभी का खून निकल रहा है।

रिक्शा चलाने वाला : आराम से साहब! मैं देखता हूँ ।

जैसे ही उन्होंने भाबी को किनारे पर रेत पर लिटाया , दोनों आदमी भाबी के बालों वाली चुत का निर्बाध दृश्य देखकर मंत्रमुग्ध लग रहे थे। भट्ठा बहुत लंबा था और घने रेशमी झांटो के बाल उसकी योनि के दोनों किनारों पर थे। कोई भी यह पहचान सकता था कि भाबी की चुत का अत्यधिक उपयोग किया गया था और उन्होंने निश्चित रूप से एक सुखी वैवाहिक जीवन व्यतीत किया है और अपने पति के साथ खूब चुदाई की है क्योंकि उनकी योनि के होंठ बिना किसी बाहरी प्रयास के खुले हुए थे।

सोने भाबी: रश्मि , कृपया मुझे कुछ दो?. मैं हमेशा के लिए ऐसा नहीं रह सकती ।

रिक्शा चलाने वाला : महोदया, पहले मुझे उस चीज को आपके पैरों से निकालने दो, नहीं तो आपके शरीर में बुरी तरह से जहर फ़ैल सकता है ।

रितेश: बिल्कुल। भाबी बस चुप रहो और धैर्य रखो। उसे पहले उस केकड़े को बाहर निकालने दो।

रितेश एक 40 वर्षीय महिला की खुली चूत के नज़ारे का आनंद ले रहा था और वह चाहता था कि वह कुछ और समय तक उसी अवस्था में खुले में रहे। वह खुद नंगा था और उसका लंड बहुत अजीब तरह से हवा में झूल रहा था। भाबी की परिपक्व चुत को देखकर वह बार-बार अपने डिक को खरोंच और सहला रहा था। मैं निश्चित रूप से बहुत अजीब महसूस कर रही थी क्योंकि स्वाभाविक रूप से मेरी आँखें बार-बार उसके लंड की ओर जा रही थी क्योंकि वह हवा में लहरा रहा था । मैं भाबी के सिर के पास बैठ गया और उसे सांत्वना देने लगी।

रिक्शाचालक इस काम में माहिर लग रहा था और उसने जल्दी से भाबी के पैर के अंगूठे से जीव निकाल लिया और घायल जगह से काफी खून बह रहा था। मुझे यह देखकर आश्चर्य हुआ कि उसने जीव को समुद्र में नहीं फेंका, बल्कि उसे रूमाल में कैद कर लिया।

मैं: अरे! तुम जीव क्यों रख रहे हो?

रिक्शा चलाने वाला : पता नहीं इसने मैडम के शरीर में कितना जहर डाला है, शायद बाद में इस जीव की जहर निकालने की जरूरत पड़े।

रितेश: क्या यह संभव है? सच में?

रिक्शा चलाने वाला : हाँ साहब ! आप शहर के लोग गांव की इन तरकीबों को नहीं जानते हो लेकिन मुझे आशा है कि हमें इसकी आवश्यकता नहीं पड़ेगी ।

जारी रहेगी


NOTE





1. अगर कहानी किसी को पसंद नही आये तो मैं उसके लिए माफी चाहता हूँ. ये कहानी पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी से कोई लेना देना नही है . मेरे धर्म या मजहब  अलग  होने का ये अर्थ नहीं लगाए की इसमें किसी धर्म विशेष के गुरुओ पर या धर्म पर  कोई आक्षेप करने का प्रयास किया है , ऐसे स्वयंभू गुरु या बाबा  कही पर भी संभव है  .



2. वैसे तो हर धर्म हर मज़हब मे इस तरह के स्वयंभू देवता बहुत मिल जाएँगे. हर गुरु जी, बाबा  जी  स्वामी, पंडित,  पुजारी, मौलवी या महात्मा एक जैसा नही होते . मैं तो कहता हूँ कि 90-99% स्वामी या गुरु या प्रीस्ट अच्छे होते हैं मगर कुछ खराब भी होते हैं. इन   खराब आदमियों के लिए हम पूरे 100% के बारे मे वैसी ही धारणा बना लेते हैं. और अच्छे लोगो के बारे में हम ज्यादा नहीं सुनते हैं पर बुरे लोगो की बारे में बहुत कुछ सुनने को मिलता है तो लगता है सब बुरे ही होंगे .. पर ऐसा वास्तव में बिलकुल नहीं है.





3.  इस कहानी से स्त्री मन को जितनी अच्छी विवेचना की गयी है वैसी विवेचना और व्याख्या मैंने  अन्यत्र नहीं पढ़ी है  .



4. जब मैंने ये कहानी यहाँ डालनी शुरू की थी तो मैंने भी इसका अधूरा भाग पढ़ा था और मैंने कुछ आगे लिखने का प्रयास किया और बाद में मालूम चला यह कहानी अंग्रेजी में "समितभाई" द्वारा "गुरु जी का (सेक्स) ट्रीटमेंट" शीर्षक से लिखी गई थी और अधूरी छोड़ दी गई थी।





बाद में 2017 में समीर द्वारा हिंदी अनुवाद शुरू किया गया, जिसका शीर्षक था "एक खूबसूरत हाउस वाइफ, गुरुजी के आश्रम में" और लगभग 33% अनुवाद "Xossip" पर किया गया था।

अभी तक की कहानी मुलता उन्ही की कहानी पर आधारित है या उसका अनुवाद है और कुछ हिस्सों का अनुवाद मैंने किया है ।

कहानी काफी लम्बी है और मेरा प्रयास जारी है इसको पूरा करने का।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Bhai Bahan Sex Kahani भाई-बहन वाली कहानियाँ desiaks 119 875,678 11-17-2022, 02:48 PM
Last Post: Trk009
Lightbulb Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड desiaks 110 2,042,192 11-15-2022, 03:27 AM
Last Post: shareefcouple
  बहू नगीना और ससुर कमीना sexstories 143 1,473,009 11-14-2022, 10:30 PM
Last Post: dan3278
Tongue Maa ki chudai मॉं की मस्ती sexstories 72 942,119 11-13-2022, 05:26 PM
Last Post: lovelylover
Sad Hindi Porn Kahani अदला बदली sexstories 63 764,167 10-03-2022, 05:08 AM
Last Post: Gandkadeewana
Lightbulb Behan Sex Kahani मेरी प्यारी दीदी sexstories 46 1,013,997 09-13-2022, 07:25 PM
Last Post: Ranu
Star non veg story नाना ने बनाया दिवाना sexstories 109 1,004,866 09-11-2022, 03:34 AM
Last Post: Gandkadeewana
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 23 698,495 09-10-2022, 01:50 PM
Last Post: Gandkadeewana
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 42 497,327 09-10-2022, 01:48 PM
Last Post: Gandkadeewana
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 46 263,070 08-27-2022, 08:42 PM
Last Post: aamirhydkhan



Users browsing this thread: 24 Guest(s)