Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
05-07-2022, 09:47 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक- नंदू के साथ चौथा दिन

अपडेट-8


पहला चुदाई अनुभव 




सोनिया भाभी ने रजोनिवृति के समय अपने भांजे नंदू के साथ अपनी आपबीती बतानी जारी रखी

जब सोना भाभी ने नन्दू से कहा मैं एक बार फिर चूसूं ? तो नंदू हैरान हो गया

उसने अपनी आँखों से मुझसे सवाल किया क्या? और मैंने अपनी आंखों से लंड की और देख कर उत्तर दिया। उफ्फ … नन्दू का लंड गनगना गया.

मैं (सोनिआ भाभी) उठकर पलंग के किनारे पर बैठ गयी । जब मैंने ऐसा किया तो इस दौरान मैंने शीशे की ओर देखा और बिस्तर पर पूरी तरह से नग्न होकर बैठी हुई मैं बेहद सेक्सी लग रही थी।

नंदू तुरंत बिस्तर से नीचे उतर गया और उसकी अपनी लटकती हुई मर्दानगी मुझे आकर्षित कर रही थी . वो मेरे मुँह के पास अपनी छड़ी ले कर आ गया । उसने मेरा हाथ पकड़ कर अपने खड़े लंड पर रख दिया. मैंने इसे दोनों हाथों से पकड़ लिया और अपने पूरे चेहरे पर छुआया और फिर बिना समय बर्बाद किए उसे बेतहाशा इस तरह चाटने लगी जैसे कि मैंने पहले कभी लंड नहीं देखा हो ! मैंने अपनी जीभ को उ अंदर-बाहर किया और लंडमुंड को चाटा और इस बीच मैंने उसकी आश्चर्यजनक रूप से सख्त गेंदों को सहलाया। मैंने धीरे से उन्हें निचोड़ा तो नंदू सुअर की तरह जोर-जोर से कराहने लगा । मैंने उसके उपकरण को अपने खुले होंठों में ले लिया और उसे अपने होठों के भीतर एक स्टिक आइसक्रीम की तरह धीरे-धीरे, इंच दर इंच ले गयी , अंत में मैंने उसे बेतहाशा चूसना शुरू कर दिया।

नंदू की सांसें तेज हो गईं- आह अह्ह हहह हम्मह उफ्फ!

जब उसका औजार मेरे मुंह के अंदर पूरी तरह से था, तो मुझे लगा कि यह मेरे गले के आधार तक पहुंच गया है और फिर मैं अलग-अलग गति से लंबे डंडे को अंदर और बाहर चूसने लगी । नंदू इतनी जोर से चिल्लाया और कराहने लगा कि मुझे डर लगा कि उसकी चिलाने की आवाज मेरे पड़ोसीयो का ध्यान आकर्षित कर देगी !

वो बोलै - आंह मौसी छोड़ो मुझे उफ्फ … आह क्या कर रही हो, मत करो कुछ हो रहा है मुझे … आह आह आह उफ्फ हिश हिश!

लेकिन मैं चूसती रही

नंदू: नहीं, मौसी, नहीं? अब नहीं ? कृपया मत करो ?

मैंने उसकी एक नहीं सुनी और अपने पलंग के किनारे बैठे उसे चूसती रही । और फिर अचानक उसने जो किया उसने मुझे पूरी तरह से स्तब्ध कर दिया। नंदू ने धक्का देकर अपने लिंग को मेरे मुँह से निकाल लिया और मुझे अचानक रोक दिया, लेकिन यह देखकर कि मैं उसका लंड छोड़ने के मूड में नहीं थी , उसने मुझे मेरे लंबे बाल पकड़ कर लंड से खींच लिया। साथ ही साथ अपने बाएं हाथ से उसने मेरे दाहिने निप्पल को दो अंगुलियों से बहुत कसकर दबाया और मेरे बालों और मेरे निप्पल दोनों पर उसकी कार्रवाई इतनी तेज थी कि मैं दर्द में रो पड़ी ।

नंदू : उफ्फ! बस मौसी मुझे छोड़ दो!

वह अभी भी मेरे बालों को पकड़े हुए था और मुझे रोकने का प्रयास रहा था।

नंदू: मौसी प्लीज रुको आपजाती हो हैं कि अगर आप ऐसा करती रही तो मैं विस्फोट कर दूंगा!

मुझे लगा मैंने होश संभाला, मेरी आंखों में आंसू आ गए और मुझे अपने दाहिने निप्पल में अत्यधिक दर्द महसूस हुआ। मैंने अपना नियंत्रण खो दिया और सीधे उसे थप्पड़ मार दिया।

मैं: उफ्फ! कमीने! देखो तुमने क्या किया है !

उसने मेरे दाहिने स्तन की और नीचे देखा और पाया कि निप्पल पहले से ही सूजा हुआ था और मुझे वहाँ बहुत तेज़ दर्द हो रहा था और लाल हो गया था जो उसके तेज नाखून से लगी खरोंच के कारण छिल गया था । नंदू तुरंत माफी मांगने के मूड में आ गया और उसने मेरे बाल छोड़ दिए।

मैं: तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई मुझे मेरे बालों से पकड़ने की! तुम्हारे मौसा-जी ने अपने पूरे जीवन में कभी भी मुझ पर नियंत्रण करने की हिम्मत नहीं की? मूर्ख ? तुमने मुझे मेरे बालों से पकडने की हिम्मत कैसे की? तुम क्या सोचते हो? चूँकि मैंने तुम्हारे सामने अपनी साड़ी खोली है, तुम जो चाहो कर सकते हो!

नंदू: सॉरी मौसी?. मुझे सच में खेद है। मेरा मतलब आपको चोट पहुँचाना नहीं था? कृपया मुझे क्षमा करें मौसी। बस हो गया मेंरे जान बूझ कर ऐसा नहीं किया था . सॉरी मौसी?

यह कहते हुए कि नंदू जल्दी से मेरे ब्रेस्ट मसाज ऑइंटमेंट की बोतल से कुछ मलहम ले आया और मेरे दाहिने निप्पल पर लगा दी । जैसे ही उसने मेरे निप्पल को मरहम से सहलाया, मैंने उसका कान कसकर पकड़ लिया और उसे आज्ञा दी:

नंदू ! अब मुझे चोदो । अभी। क्या तुम मेरी बात समझ रहे हैं!

नंदू: लेकिन मौसी? मेरा मतलब है? ओह्ह्ह ?

मैं: तुम क्या बुदबुदा रहे हो, बदमाश?

नंदू: मौसी!, मेरा मतलब है कि मैंने कभी किसी लड़की की चुदाई नहीं की?

क्या ईमानदार स्वीकारोक्ति है!

इससे पहले कि वह ठीक से प्रतिक्रिया दे पाता, मैंने उसे अपने पास खींचा और गले से लगा लिया और बिस्तर पर ले जाकर उसे अपने शरीर के ऊपर लेटा दिया। पहली बार मैंने उसके होठों को अपने होंठो के अंदर दबा लिया और उसे गहरा चूमा। बदले में नंदू ने भी मुझे चूमा, लेकिन निश्चित रूप से वो अभी काफी बचकाना था । मैंने बार-बार उसके होठों को चूसा और अपनी जीभ को उसके मुँह के अंदर झाँका और उसकी जीभ को भी चूसा। मेरे पति के साथ मुझे वास्तव में यह अवसर नहीं मिलता है क्योंकि जब वह मुझे चूमते हैं तो वह मुख्य भूमिका निभाते हैं और ज्यादातर बार मैं बस लेटी रहती हूँ क्योंकि वह एक साथ मेरे स्तन को निचोड़ते हैं या मेरी गांड पकड़ लेते हैं।

लेकिन यहां नंदू एक नौसिखिया होने के नाते मैं उसे लंबे समय तक चूमने में सक्षम थी और मैंने वास्तव में इसका आनंद लिया। फिर मैंने उसका इरेक्ट औजार पकड़ा और उसे अपने लवस्पॉट में गाइड किया। मैं महसूस कर सकता थी कि एक तेज गति में उसकी छड़ी मेरे अंदर प्रवेश कर गहरी चली गई । यद्यपि मेरी योनि उतना गीली नहीं थी जितनी कि किसी अन्य सामान्य महिला की ऐसे मौके पर हो जाती है , नंदू का युवा और कठोर लंड मेरे छेद में अंदर जाने और बाहर निकलने में पूर्णतया सक्षम था। और एक बार अंदर जाने के बाद, उसने मुझे चोदना शुरू कर दिया।

कुछ चीजे स्वाभिक होती हुई और उन्हें बताना नहीं पड़ता . उसकी कमर और नितम्ब हिलने लगे .


उसका लंड मेरी फिसलन भरी चूत में आधा अंदर चला गया और अगले जोरदार धमाके में उसने पूरी तरह से अपना रास्ता बना लिया। नंदू ने मेरे दोनों स्तनों को पकड़ा और उन्हें निचोड़ा और मेरे निपल्स को बारी-बारी से घुमाया, जबकि इस बीच उसने अपने उपकरण को लयबद्ध तरीके से अंदर और बाहर घुमाया।

अठारह वर्ष के ग्यारहवीं कक्षा में पढ़ रहे इस युवा लड़के ने मुझे चोदना शुरू दिया था, मैं बेशर्मी से खुशी के साथ जोर-जोर से कराह रही थी । उसने अपने उपकरण को अंदर और बाहर, तेज और धीमी, तेज और धीमी गति से धक्के दिए , जबकि उसके हाथ एक पल के लिए भी स्थिर नहीं थे, या तो मेरे स्तनों के साथ खेल रहे थे, या उन्हें निचोड़ रहे थे, या मेरे तंग निपल्स को घुमा रहे थे, या मेरी नाभि को छू रहे थे। मैं अपनी पूरी तेज आवाज के साथ चिल्ला रही थी मेरे गालो पर खुशी के आंसू बह रहे थे क्योंकि मेरे पति से इस तरह मेरी जरूरतों को नजरंअदाज करने के कारण मैं तड़प रही थी और इतने दिनों के बाद मैंने अपने अंदर उत्तेजना को बढ़ते हुए और उत्कर्ष को बनते हुए महसूस किया?

मैं: आआ? आआ? आआ?. रुको मत तेज करो करो नंदू?. बस रुको मत !
मैं: आह उह्ह्ह उउउउ उउउइइइइइइइ। तेज करो करो नंदू? आह उह्ह्ह उउउउ!

मैं जोर-जोर से कराहती रही क्योंकि जब वह हर बार मेरे अंदर घुसा करता था तो लंड मेरी योनि को भर देता था । मेरी योनि की मांसपेशियां उसके लंड को ऐंठने की कोशिश कर रही थीं, लेकिन दुर्भाग्य से मेरा रास्ता उसके दुबले-पतले आकार के लंड के लिए बहुत चौड़ा था। चूँकि मेरी शादी को इतने लंबे समय हो गए थे और मनोहर के साथ वर्षों से संभोग कर रहे थे और मेरी बेटी के जनम के बाद से , मेरी योनि का मार्ग चौड़ा हो गया था और वहाँ की मांसपेशियाँ ढीली हो गई थीं; तो निश्चित रूप से मुझे नंदू के युवा लंड के साथ वह तंग महसूस नहीं हो रहा था, लेकिन फिर भी यह एक बहुत ही आंनद दायक अनुभव था। नंदू ने भी उस दर्द को महसूस नहीं किया, जो उसे आमतौर पर एक कुंवारी लड़की को चोदने में मिलता । फिर भी उसके चेहरे से लग रहा था कि वह अपनी गतिविधियों में लीन है और मजे कर रहा है । मैंने महसूस किया कि एक पल के लिए मेरा पूरा शरीर अकड़ गया है और उसके बाद मैं बहुत हिंसक रूप से कांपने लगी । नंदू के चेहरे की ओर देखते हुए मैं कांपती रही और एक चीख के साथ बेतहाशा चरमोत्कर्ष पर पहुंच गयी ।

मैं: आह उह्ह्ह उउउउ उउउइइइइइइइ।

इस युवा लड़के के लिए और अधिक संभव नहीं था और वो जोर से चिल्लाया और अगले दो झटके के भीतर उसका शरीर धनुष के आकार में झुका और उसने मेरे अंदर विस्फोट कर दिया और मेरी पूरी योनि उसके गर्म रस के साथ भर गई ।

मैं: आ आ आआआआह!

यह बहुत संतोषजनक था! किसी भी विवाहित महिला के लिए चुदाई के अलावा खुद को संतुष्ट करने का अन्य कोई विकल्प नहीं है । मैं महसूस कर सकती थी कि नंदू का लंड मेरी चूत से बाहर निकल रहा है और अपनी लचीला स्थिति खो रहा है। नंदू अब पूरी तरह थक कर मेरे शरीर के ऊपर लेट गया। मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं और इन बहुत ही संतोषजनक पलों को संजोने की कोशिश की, हालाँकि मुझे पर्याप्त डिस्चार्ज नहीं मिला था , जिससे मैं अंदर से अधूरा महसूस कर रही थी।

न जाने कितनी देर मैं आंखें बंद करके ऐसे ही लेटी रही । नंदू मुझसे उतरा और शौचालय में जाकर उसने अपनी सफाई की। मैं अभी भी पूरी तरह से नग्न अवस्था में अपने पैरों को फैला कर अपने बिस्तर पर लेटो हुई थी । मेरी चूत के होंठ और चूत के बाल बेशर्मी से प्रदर्शित थे और नंदू का रस अभी भी मेरी चूत के छेद से निकल रहा था।

नंदू: मौसी, मौसी! उठो और? मेरा मतलब है कुछ पहनो!

मैं: हुह! ओह! हां।

नंदू: मेरा मतलब है कि अगर मौसा-जी वापस आ जाते हैं?

उसके मुंह से मौसा जी शब्द सुनते ही मेरे होश उड़ गए। अनैच्छिक रूप से मेरे दाहिने हाथ ने मेरे नंगे स्तन को ढँक दिया। मैं उठी , हालाँकि अब मेरी चूत में बहुत दर्द हो रहा था। मुझे अपने डॉक्टर की अगले कुछ दिनों तक सेक्स न करने की सलाह याद आ गई, जिसका मैंने आज उल्लंघन किया था । नंदू मेरे पास खड़ा था और मेरी बदरंग हालत का लुत्फ उठा रहा था । पता नहीं क्यों अचानक मुझे शर्म आने लगी; शायद मेरी स्वाभाविक प्रवृत्ति अब मेरे ऊपर नियंत्रण ले रही थी। मैंने अपने लटके हुए आजाद स्तनों को दोनों हाथों से ढँक लिया और खड़ी हो गयी । मैंने बिस्तर के पास शीशे की ओर देखा, और खुद को उस अवस्था में देखकर जोर से शरमा गयी । नंदू शायद मेरी त्वचा के रोमछिद्र भी देख सकता था ! मैं बेशर्मी से नग्न ही शौचालय की ओर चल दी और इस बीच नंदू स्पष्ट रूप से मुझे घूर रहा था। मेरे स्तन हर कदम पर कामुकता से लहरा रहे थे और सोच रही थी कि अपने हाथो से क्या ढकूं? मेरी चूत, या मेरी विशाल गांड, या मेरी जुड़वां स्तनों की बड़ी चोटियाँ!

जारी रहेगी

NOTE





1. अगर कहानी किसी को पसंद नही आये तो मैं उसके लिए माफी चाहता हूँ. ये कहानी पूरी तरह काल्पनिक है इसका किसी से कोई लेना देना नही है . मेरे धर्म या मजहब  अलग  होने का ये अर्थ नहीं लगाए की इसमें किसी धर्म विशेष के गुरुओ पर या धर्म पर  कोई आक्षेप करने का प्रयास किया है , ऐसे स्वयंभू गुरु या बाबा  कही पर भी संभव है  .



2. वैसे तो हर धर्म हर मज़हब मे इस तरह के स्वयंभू देवता बहुत मिल जाएँगे. हर गुरु जी, बाबा  जी  स्वामी, पंडित,  पुजारी, मौलवी या महात्मा एक जैसा नही होते . मैं तो कहता हूँ कि 90-99% स्वामी या गुरु या प्रीस्ट अच्छे होते हैं मगर कुछ खराब भी होते हैं. इन   खराब आदमियों के लिए हम पूरे 100% के बारे मे वैसी ही धारणा बना लेते हैं. और अच्छे लोगो के बारे में हम ज्यादा नहीं सुनते हैं पर बुरे लोगो की बारे में बहुत कुछ सुनने को मिलता है तो लगता है सब बुरे ही होंगे .. पर ऐसा वास्तव में बिलकुल नहीं है.



3.  इस कहानी से स्त्री मन को जितनी अच्छी विवेचना की गयी है वैसी विवेचना और व्याख्या मैंने  अन्यत्र नहीं पढ़ी है  .



4. जब मैंने ये कहानी यहाँ डालनी शुरू की थी तो मैंने भी इसका अधूरा भाग पढ़ा था और मैंने कुछ आगे लिखने का प्रयास किया और बाद में मालूम चला यह कहानी अंग्रेजी में "समितभाई" द्वारा "गुरु जी का (सेक्स) ट्रीटमेंट" शीर्षक से लिखी गई थी और अधूरी छोड़ दी गई थी।


बाद में 2017 में समीर द्वारा हिंदी अनुवाद शुरू किया गया, जिसका शीर्षक था "एक खूबसूरत हाउस वाइफ, गुरुजी के आश्रम में" और लगभग 33% अनुवाद "Xossip" पर किया गया था।

अभी तक की कहानी मुलता उन्ही की कहानी पर आधारित है या उसका अनुवाद है और कुछ हिस्सों का अनुवाद मैंने किया है ।

कहानी काफी लम्बी है और मेरा प्रयास जारी है इसको पूरा करने का।
Reply



Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Heart Chuto ka Samundar - चूतो का समुंदर sexstories 671 4,861,869 05-14-2022, 08:54 AM
Last Post: Mohit shen
Star Antarvasna Sex Story - जादुई लकड़ी desiaks 61 96,449 05-10-2022, 03:48 AM
Last Post: Yuvraj
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 40 232,692 05-08-2022, 09:00 AM
Last Post: soumya
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 22 382,505 05-08-2022, 01:28 AM
Last Post: soumya
Star XXX Kahani मेरा सुहाना सफर-कुछ पुरानी यादें desiaks 339 349,770 04-30-2022, 01:10 AM
Last Post: soumya
Star XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता desiaks 54 160,286 04-11-2022, 02:23 PM
Last Post: desiaks
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 40 176,012 04-09-2022, 05:53 PM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 248 2,014,257 04-05-2022, 01:17 PM
Last Post: Nil123
Star Free Sex Kahani परिवर्तन ( बदलाव) desiaks 30 158,619 03-21-2022, 12:54 PM
Last Post: Pyasa Lund
  Chudai Story हरामी पड़ोसी sexstories 30 244,157 03-20-2022, 12:55 AM
Last Post: Samar28



Users browsing this thread: 16 Guest(s)