Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
01-17-2019, 01:57 PM,
#41
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
गुरुजी – रश्मि अब तुम अपने कमरे में जाओ और आराम करो. कल और परसों तुम्हारे लिए महायज्ञ होगा. तब तक तुम जो दवाइयाँ दी हैं उन्हें लेती रहो.

“ठीक है गुरुजी.”

मैं उठकर कमरे से बाहर जाने लगी तभी उन्होंने मुझसे पूछा.

गुरुजी – रश्मि तुम्हें राजकमल की मालिश पसंद आई ?

समीर और गुरुजी दोनों मुझे ही देख रहे थे और उनके इस प्रश्न का उत्तर देना मेरे लिए शर्मिंदगी वाली बात थी लेकिन मुझे जवाब तो देना ही था.

“हाँ, अच्छी थी.”

गुरुजी – उसके हाथों में जादू है. एक बात का ध्यान रखना, अगर तुम उससे मालिश करवाओगी तो उसको अपनी गांड पर मालिश मत करने देना क्यूंकी वहाँ पर मुझे चेकअप के दौरान सूजन मिली थी. 

मुझे उनकी बात से इतनी शरम आई की मैं सर हिलाकर हामी भी नहीं भर सकी. 

समीर – गुरुजी क्षमा करें पर मेरी राय अलग है. मेरे ख्याल से मैडम राजकमल से अपनी गांड पर मालिश करवा सकती हैं लेकिन इन्हें राजकमल को सिर्फ़ ये बताना पड़ेगा की गांड के छेद पर तेल ना लगाए बस.

गुरुजी – हाँ रश्मि . समीर सही कह रहा है. तुम गांड की मालिश करवा सकती हो लेकिन उसे छेद को मत छूने देना.

गुरुजी ने मुस्कुराते हुए मुझे देखा. मैं उन दोनों मर्दों की मेरी गांड की मालिश के बारे में बातचीत से शरम से मरी जा रही थी. मेरा मुँह शरम से लाल हो गया था. मुझे कुछ कहना ही नहीं आ रहा था.

समीर – गुरुजी मेरे ख्याल से मालिश के समय मैडम को अपनी पैंटी नहीं उतारनी चाहिए , उससे छेद सेफ रहेगा.

गुरुजी और समीर दोनों मेरा मुँह देख रहे थे और मैं किसी भी तरह वहाँ से चले जाना चाहती थी. मैं उनकी नज़रों से नज़रें नहीं मिला पा रही थी. मुझे उनकी बातों से पता चल गया था की ये दोनों जानते हैं की राजकमल के सामने मैंने अपने अंडरगार्मेंट्स उतार दिए थे. मैं उनके सामने बहुत लज़्ज़ित महसूस कर रही थी.

गुरुजी – सही कहा समीर. पैंटी से बचाव हो जाएगा. रश्मि ये ठीक रहेगा. तुम पैंटी के बाहर से ही मालिश करवा लेना…………

अब मुझसे और नहीं सुना गया. मैंने गुरुजी की बात को बीच में ही काट दिया.

“गुरुजी………...मैं समझ गयी.”

शायद गुरुजी मेरी हालत समझ गये. भगवान का शुक्र है.

गुरुजी – ठीक है रश्मि. अब तुम अपने कमरे में जाओ. मुझे समीर और मंजू से गुप्ताजी के यज्ञ के बारे में बात करनी है.

उस कमरे से बाहर आकर मैंने राहत की साँस ली. भारी साँसों और शरम से लाल मुँह लेकर मैं अपने कमरे में वापस आ गयी. ऐसा लग रहा था जैसे गुरुजी और समीर की बातचीत अभी भी मेरे कानों में गूँज रही है. मैंने बहुत अपमानित महसूस किया. मैंने थोड़ी देर बेड में बैठकर आराम किया फिर सोने के लिए लेट गयी. लेकिन मेरे मन में बहुत सी बातें घूम रही थीं. गुरुजी ने कहा था की दो दिन तक महायज्ञ चलेगा और इससे मेरे योनिमार्ग की रुकावट दूर हो जाएगी. लेकिन कैसे ? दो दिन तक मुझे क्या करना होगा ? उन्होंने ऐसा क्यूँ कहा की यज्ञ थका देने वाला होगा ? लेकिन इन सवालों का मेरे पास कोई जवाब नहीं था.

मेरे मन में ससुरजी की बातें भी घूम रही थीं. उन्होंने कहा था की दुबारा आऊँगा. सच कहूँ तो मैं उनके बारे में कोई राय नहीं बना पा रही थी. मेरे जवान बदन को उन्होंने जैसे छुआ था वो मुझे अजीब सा लगा था. पहले जब भी उनसे मुलाकात हुई थी तो उनका व्यवहार ऐसा नहीं था लेकिन हम अकेले कभी नहीं मिले थे. ससुराल में कोई ना कोई होता था. लेकिन मुझे उनकी उमर को देखते हुए दुविधा भी हो रही थी की वो ऐसा कैसे कर सकते हैं. यही सब सोचते हुए ना जाने कब मुझे गहरी नींद आ गयी.

“खट , खट ….”

“मैडम, उठिए प्लीज़.”

मैं बेड से उठी और दरवाज़ा खोलने को बढ़ी तभी मुझे ध्यान आया की मैंने साड़ी तो पहनी ही नहीं है. दरअसल बेड में लेटते समय मैंने साड़ी उतार दी थी. मैं दरवाज़े से वापस आई और जल्दी से साड़ी को पल्लू के जैसे अपने ब्लाउज के ऊपर डाल लिया और दरवाज़ा खोला. दरवाज़े में परिमल खड़ा था. लेकिन मुझे उठाने की उसे इतनी जल्दी क्यूँ पड़ी थी ?

“क्या हुआ …?”

परिमल – मैडम आपको गुरुजी ने तुरंत बुलाया है.

“क्यूँ ? क्या बात है ?”

परिमल – मुझे नहीं मालूम मैडम. 

“ठीक है . तुम जाओ और गुरुजी को बताओ की मैं अभी आ रही हूँ.”

परिमल की नज़रें मेरे पेटीकोट से ढके निचले बदन पर थी. मैंने दोनों हाथों में साड़ी पकड़ी हुई थी और ब्लाउज के ऊपर पल्लू की तरह डाली हुई थी पर नीचे सिर्फ़ पेटीकोट था. परिमल को इतनी जल्दी थी की मुझे ठीक से साड़ी पहनने का वक़्त नहीं मिला था. फिर परिमल चला गया. मैंने दरवाज़ा बंद किया और बाथरूम चली गयी. फिर ठीक से साड़ी पहनी , बाल बनाए और गुरुजी के कमरे की तरफ चल दी. क्या हुआ होगा ? अभी तो उनके कमरे से आई थी फिर क्यूँ बुलाया ? मैं सोच रही थी.

“गुरुजी , आपने मुझे बुलाया ?”

गुरुजी – हाँ रश्मि. एक समस्या आ गयी है और मुझे तुम्हारी मदद चाहिए.

गुरुजी को मेरी मदद की क्या आवश्यकता पड़ गयी ?

“ऐसा मत कहिए गुरुजी. आज्ञा दीजिए.”

गुरुजी – रश्मि तुम्हें तो मालूम है की मुझे यज्ञ के लिए शहर जाना है. समीर और मंजू भी मेरे साथ जानेवाले थे लेकिन मंजू को तेज बुखार आ गया है.

“ओह……अरे….”

गुरुजी – मैंने उसको दवाई दे दी है लेकिन वो मेरे साथ आने की हालत में नहीं है. लेकिन यज्ञ में गुप्ताजी का माध्यम बनने के लिए मुझे एक औरत की ज़रूरत पड़ेगी. इसलिए…..

“ जी गुरुजी ..?”

गुरुजी हिचकिचा रहे थे.

गुरुजी – मेरा मतलब अगर तुम मेरे साथ आ सको.

“कोई परेशानी नहीं है गुरुजी. आप इतना हिचकिचा क्यूँ रहे हैं ? अगर मैं आपकी कोई सहायता कर सकी तो ये मेरे लिए बड़ी खुशी की बात होगी.”

गुरुजी – धन्यवाद रश्मि. लेकिन हमें आज रात वहीं रहना होगा क्यूंकी यज्ञ में देर हो जाएगी.

“ठीक है गुरुजी.”

समीर – मैडम, गुप्ताजी का मकान बहुत बड़ा है. और उनके गेस्ट रूम्स बहुत आरामदायक हैं . आपको कोई परेशानी नहीं होगी.

“अच्छा. गुरुजी किस समय जाना होगा ?”

गुरुजी – अभी 5:30 हुआ है. हम 7 बजे जाएँगे. रश्मि एक काम करो. मंजू के कमरे में जाओ और उससे यज्ञ के बारे में थोड़ी जानकारी ले लो क्यूंकी यज्ञ में तुम्हें मेरी मदद करनी पड़ेगी.

“ठीक है गुरुजी.”

वहाँ से मैं मंजू के कमरे में चली गयी. उसके कमरे में धीमी रोशनी थी और मंजू बेड में लेटी हुई थी. कोई उसके सिरहाने बैठा हुआ था और उसके माथे में कुछ लेप लगा रहा था. कम रोशनी की वजह से मैं ठीक से देख नहीं पाई की वो कौन है. 

“कैसी हो मंजू ?”

मंजू – गुरुजी ने दवाई दी है लेकिन बुखार उतरा नहीं है.

मैं बेड के पास आई तो देखा सिरहाने पर राजकमल बैठा है. मैंने मंजू के गालों पर हाथ लगाया , वो गरम थे , वास्तव में उसको बुखार था. 

“हम्म्म……..अभी भी बुखार है.”

राजकमल – 102 डिग्री है मैडम. अभी थोड़ी देर पहले चेक किया है.

मंजू – मैडम, गुरुजी ने आपसे शहर चलने को कहा ?

“हाँ. उन्होंने अभी बताया मुझे.”

मंजू – आपको परेशानी के लिए सॉरी मैडम. लेकिन मैं ऐसी हालत में जा भी तो नहीं सकती.

“कोई बात नहीं. तुम आराम करो.”

मैं बाहर से आई तो धीमी रोशनी में मेरी आँखों को एडजस्ट होने में समय लगा. लेकिन अब मैंने देखा की मंजू बेड में बड़ी लापरवाही से लेटी हुई है , जबकि वहाँ राजकमल भी था. मुझे ये देखकर बड़ी हैरानी हुई की उसका पल्लू ब्लाउज के ऊपर से पूरी तरह सरका हुआ था और उसकी बड़ी चूचियों का करीब आधा हिस्सा साफ दिख रहा था. राजकमल उसके सिरहाने बैठा हुआ था तो उसको और भी अच्छे से दिख रहा होगा. मंजू का सर तकिया पर नहीं बल्कि राजकमल की गोद में था. राजकमल उसके माथे में कोई लेप लगा रहा था और जिस तरह से मंजू गहरी साँसें ले रही थी उससे मुझे कुछ शक़ हुआ. 

मंजू – मैडम, मैं गुप्ताजी के घर पहले भी गयी हूँ , वहाँ आपको कोई परेशानी नहीं होगी.

“ठीक है. पर यज्ञ में मुझे क्या करना होगा ?”

मंजू – मैडम , ज़्यादा कुछ नहीं करना है. यज्ञ के लिए सामग्री जैसे तेल, लकड़ी, फूल, और इस तरह के और भी आइटम की व्यवस्था करनी होगी. समीर आपको बता देगा और आप ये समझ लो की जैसे आप घर में पूजा करती हो वैसे ही होगा बस.

ये सुनकर मैंने राहत की साँस ली क्यूंकी मुझे यज्ञ के बारे में कुछ पता नहीं था इसलिए थोड़ी चिंता हो रही थी.

“गुरुजी कुछ माध्यम की बात कर रहे थे. वो क्या होता है ?”

मंजू – मैडम, यज्ञ में आदमी को एक माध्यम की ज़रूरत होती है जिसके द्वारा उसको यज्ञ का फल प्राप्त हो सके और गुरुजी के अनुसार अच्छे परिणामों के लिए उनके लिंग भिन्न होने चाहिए.

“भिन्न मतलब ?”

मंजू – मतलब ये की मर्द के लिए माध्यम औरत होनी चाहिए और औरत के लिए मर्द.

“अच्छा , मैं समझ गयी.”

मेरे ऐसा कहने पर मंजू बड़े अर्थपूर्ण तरीके से मुस्कुरायी. उस मुस्कुराहट की वजह मुझे समझ नहीं आई.

मंजू – मुझे प्यास लग रही है.

राजकमल – पानी लाता हूँ.

मंजू ने उसकी गोद से अपना सर उठाया और राजकमल बेड से उठकर एक ग्लास पानी ले आया. मंजू ने उठने की कोशिश की लेकिन राजकमल ने उसको वैसे ही लेटे लेटे पानी पिला दिया. थोड़ा पानी मंजू की ठुड्डी से होते हुए उसकी छाती में बहने लगा. राजकमल ने तुरंत उसकी चूचियों के ऊपरी भाग से पानी को पोछ दिया. मैं थोड़ा चौंकी लेकिन मैंने सोचा बीमार है इसलिए पोछ रहा होगा लेकिन फिर उसके बाद राजकमल ने जो किया वो मेरे लिए पचाना मुश्किल था.

राजकमल ने ग्लास बगल में टेबल में रख दिया. और फिर से सिरहाने में बैठ गया और मंजू ने उसकी गोद में सर रख दिया.

राजकमल – पानी तुम्हारे ब्लाउज में गिरा क्या ?

मंजू – मुझे नहीं मालूम. गिरा भी होगा तो मुझे नहीं पता चला.

राजकमल – ठीक है. तुम आराम से लेटी रहो मैं देखता हूँ.

मंजू – मैडम, आप कपड़े भी ले जाना क्यूंकी यज्ञ के बाद आपको नहाना पड़ेगा.

“हाँ, मैं ले जाऊँगी.”

हम दोनों बातें कर रही थीं और ब्लाउज में पानी देखने के बहाने राजकमल मंजू की चूचियों पर हर जगह हाथ फिरा रहा था. हैरानी इस बात की थी की मंजू को इससे कोई फरक नहीं पड़ रहा था और उसने अपना पल्लू तक ठीक नहीं किया. फिर मुझे तो कुछ कहना ही नहीं आया जब मैंने देखा की मंजू की क्लीवेज में चूचियों के ऊपरी भाग पर राजकमल ने अपनी अँगुलियाँ लगा कर देखा की वहाँ पर गीला तो नहीं है.

राजकमल – मैडम, अलमारी से एक कपड़ा ला दोगी ?

“कपड़ा ? क्यूँ ?”

राजकमल – असल में इसका ब्लाउज कुछ जगहों पर गीला हो गया है. मैं ब्लाउज के अंदर एक कपड़ा डालना चाह रहा हूँ ताकि इसको सर्दी ना लगे.

एक 35 बरस की भरे पूरे बदन वाली औरत के ब्लाउज के अंदर वो कपड़ा डालना चाहता था. मैं बेड से उठी और अलमारी से कपड़ा ले आई. मैंने मंजू को शर्मिंदगी से बचाने की कोशिश की.

“कहाँ पर गीला है राजकमल ? मैं डाल देती हूँ कपड़ा.”

मंजू – मैडम, आप परेशान मत हो. राजकमल कर लेगा.

उस औरत का रवैया देखकर मैं तो हैरान रह गयी. वो अपने ब्लाउज के अंदर मेरा नहीं बल्कि एक मर्द का हाथ चाहती थी. मेरे पास अब कोई चारा नहीं था और मैंने वो कपड़ा राजकमल को दे दिया.

राजकमल – धन्यवाद मैडम.

अब राजकमल ने मेरे सामने बेशर्मी से मंजू के ब्लाउज का ऊपरी हिस्सा उठा दिया और उसकी चूचियों और ब्लाउज के बीच में कपड़ा लगा दिया. मंजू की बड़ी चूचियाँ साँस लेने के साथ ऊपर नीचे को उठ रही थीं. कपड़ा घुसाने के बहाने राजकमल को मंजू की चूचियों को छूने और पकड़ने का मौका मिल गया.

उसके बाद राजकमल फिर से उसके माथे पर लेप लगाने लगा. मैंने सोचा यहाँ पर बैठकर इनकी बेशरम हरकतों को देखने का कोई मतलब नहीं है .

“ठीक है मंजू. तुम आराम करो. अब मैं जाती हूँ.”

मंजू – ठीक है मैडम.

राजकमल – बाय मैडम.

मैं अपने कमरे में वापस चली आई और गुप्ताजी के घर जाने की तैयारी करने लगी.
Reply

01-17-2019, 01:57 PM,
#42
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
मैं अपने कमरे में वापस चली आई और गुप्ताजी के घर जाने की तैयारी करने लगी. मैंने सोचा अगर यज्ञ पूरा होने में देर रात हो भी जाती है तो मुझे परेशानी नहीं होगी क्यूंकी मैं दोपहर बाद गहरी नींद ले चुकी थी. मैंने अपने बैग में एक साड़ी, ब्लाउज , पेटीकोट और एक सेट ब्रा पैंटी रख लिए. और फिर बाथरूम जाकर फ्रेश होकर आ गयी. 6:30 बजे परिमल मुझे देखने आया की मैं तैयार हो रही हूँ या नहीं. मैं तैयार होकर बैठी थी तो उसके साथ ही गुरुजी के कमरे में चली गयी. गुरुजी भी तैयार थे. समीर और विकास यज्ञ के लिए ज़रूरी सामग्री को एकत्रित कर रहे थे. गुप्ताजी ने हमारे लिए कार भेज दी थी. 15 मिनट बाद हम तीनो आश्रम से कार में निकल पड़े.

कार में ज़्यादा बातें नहीं हुई . गुरुजी और समीर ने मुझसे कहा की यज्ञ के लिए चिंता करने की ज़रूरत नहीं , जो भी करना होगा हम बता देंगे. करीब एक घंटे बाद हम गुप्ताजी के घर पहुँच गये. तब तक 8 बज गये थे और अंधेरा हो चुका था. वो दो मंज़िला मकान था और हम सीढ़ियों से होते हुए सीधे दूसरी मंज़िल में गये. वहाँ श्रीमती गुप्ता ने गुरुजी का स्वागत किया. मैंने देखा श्रीमती गुप्ता करीब 40 बरस की भरे बदन वाली औरत थी. वो हमें ड्राइंग रूम में ले गयी वहाँ सोफे में उसका पति गुप्ताजी बैठा हुआ था. गुप्ताजी की उम्र ज़्यादा लग रही थी , 50 बरस से ऊपर का ही होगा. उसने चश्मा लगा रखा था और चेहरे पर दाढ़ी भी घनी थी. वो सफेद कुर्ता पैजामा पहने हुआ था और उसके बायें पैर में लकड़ी का ढाँचा बँधा हुआ था. सहारे के लिए उसके पास एक छड़ी थी. जब वो खड़ा हुआ तो उसकी पत्नी ने उसे सहारा दिया. साफ दिख रहा था की वो आदमी विकलांग था.

गुप्ताजी ने भी गुरुजी का स्वागत किया. लेकिन जिस लड़की के लिए गुरुजी यज्ञ करने आए थे वो मुझे नहीं दिखी. गुरुजी गुप्ताजी को कुमार और उनकी पत्नी को नंदिनी नाम से संबोधित कर रहे थे. फिर गुरुजी ने उन दोनों पति पत्नी से मेरा परिचय करवाया और बताया की मंजू बीमार है इसलिए नहीं आ सकी.

गुरुजी – नंदिनी , काजल कहाँ है ? दिख नहीं रही.

नंदिनी – गुरुजी वो अभी नहा रही है. मैंने उससे कहा यज्ञ से पहले नहा लो.

गुरुजी – बढ़िया.

नंदिनी – गुरुजी हम तो उसकी पढ़ाई को लेकर परेशान हैं. पिछले साल वो फेल हो गयी थी और इस बार भी ……

गुरुजी ने बीच में ही बात काट दी.

गुरुजी – नंदिनी, लिंगा महाराज में भरोसा रखो. यज्ञ से तुम्हारी बेटी की सब बाधायें दूर हो जाएँगी. चिंता मत करो.

नंदिनी गुप्ताजी को सहारा दिए खड़ी थी और मुझे लग रहा था की वो अपने पति का बहुत ख्याल रखती है. तभी एक सुंदर सी चुलबुली लड़की कमरे में आई. मैं समझ गयी की ये लड़की ही काजल है. उसने हरे रंग का टॉप और काले रंग की लंबी स्कर्ट पहनी हुई थी. वो 18 बरस की थी . उसके चेहरे पर मुस्कान थी और वो बहुत आकर्षक लग रही थी.

काजल – प्रणाम गुरुजी.

काजल गुरुजी के पास आई और उनके पैर छूकर आशीर्वाद लिया. मैंने देखा झुकते समय टॉप के अंदर उसकी चूचियाँ थोड़ा हिली डुली. ज़रूर उसने ढीली ब्रा पहनी हुई थी, जैसा की हम औरतें कभी कभी घर में पहनती हैं. मैंने ख्याल किया समीर की नज़रें भी काजल की हिलती चूचियों पर थीं. 

गुरुजी – काजल बेटा, तुम्हारी पढ़ाई के क्या हाल हैं ?

काजल – गुरुजी , मैं पूरी कोशिश कर रही हूँ. लेकिन जो मैं घर में पढ़ती हूँ वैसा एग्जाम्स में नहीं लिख पाती.

गुरुजी – हम्म्म ……….ध्यान लगाने की समस्या है. चिंता मत करो बेटी , अब मैं आ गया हूँ, सब ठीक हो जाएगा.

काजल – गुरुजी मुझे बहुत फिकर हो रही है. इस बार भी मेरे मार्क्स बहुत कम आ रहे हैं.

गुरुजी – काजल बेटी, यज्ञ से तुम्हारा दिमाग़ ऐसा खुलेगा की तुम्हें पढ़ाई में ध्यान लगाने में कोई दिक्कत नहीं होगी.

गुरुजी के शब्दों से काजल और उसके मम्मी पापा बहुत खुश लग रहे थे. मैंने देखा काजल और गुरुजी की बातचीत के दौरान कुमार (गुप्ताजी) मुझे घूर रहा था. नंदिनी अभी भी उसके साथ ही खड़ी थी. पहले तो मैंने ध्यान नहीं दिया लेकिन अब मुझे लगा की वास्तव में वो मुझे घूर रहा था. औरत होने की शरम से मैंने अपनी छाती के ऊपर साड़ी के पल्लू को ठीक किया जबकि वो पहले से ही ठीक था. मैंने नंदिनी को देखा की उसे अपने पति की नज़रें कहाँ पर हैं , मालूम है क्या, पर ऐसा लग रहा था की उसका ध्यान गुरुजी की बातों पर है.

गुरुजी – ठीक है फिर. नंदिनी पूजा घर में चलो.

गुरुजी और समीर नंदिनी के साथ जाने लगे और मैं भी उनके पीछे चल दी. कुमार की नज़रों से पीछा छूटने से मुझे खुशी हुई. फिर नंदिनी सीढ़ियों से ऊपर जाने लगी उसके पीछे गुरुजी थे फिर मैं और अंत में समीर था. मेरी नज़र सीढ़ियां चढ़ती नंदिनी की मटकती हुई गांड पर पड़ी. साड़ी में उसकी हिलती हुई गांड गुरुजी के चेहरे के बिल्कुल सामने थी. तभी मुझे ध्यान आया की ऐसा ही दृश्य तो मेरे पीछे सीढ़ियां चढ़ते समीर को भी मेरी मटकती गांड का दिख रहा होगा. वो तो अच्छा था की कुछ ही सीढ़ियां थी फिर दूसरी मंज़िल की छत पर पूजा घर था.

गुरुजी – नंदिनी तुम तो थोड़ी सी सीढ़ियां चढ़ने पर भी हाँफने लगी हो.

नंदिनी – जी गुरुजी. ये समस्या मुझे कुछ ही समय पहले शुरू हुई है.

गुरुजी – समीर ज़रा नंदिनी की नाड़ी देखो.

समीर – जी गुरुजी.

उन दोनों को वहीं पर छोड़करगुरुजी और मैं पूजा घर की तरफ बढ़ गये. मैंने एक नज़र पीछे डाली तो देखा समीर नंदिनी से सट के खड़ा था , उन्हें ऐसे देखकर मेरे दिमाग़ में उत्सुकता हुई. पूजा घर एक छोटा सा कमरा था जिसमें देवी देवताओं के चित्र लगे हुए थे. गुरुजी आश्रम से लाई हुई यज्ञ की सामग्री निकाल कर रखने लगे और मुझसे फूल और मालायें अलग अलग रखने को कहा. लेकिन मुझे ये देखने की उत्सुकता हो रही थी की समीर नंदिनी के साथ क्या कर रहा है ? इसलिए मैं अपनी जगह से खिसककर दरवाज़े के पास बैठ गयी.

नंदिनी – समीर मैं एलोपैथिक दवाइयों पर भरोसा नहीं करती. डॉक्टर ने मुझे कुछ दवाइयां दी हैं लेकिन मैंने नहीं खायी.

समीर – लेकिन मैडम, अगर आप दवाई नहीं लोगी तो आपकी समस्या और बढ़ जाएगी ना.

नंदिनी – समीर अब और क्या समस्यायें बढ़नी बची हैं ? कुमार को तो तुम जानते ही हो. वो पक्का शराबी है. ऊपर से 5 साल से विकलांग भी हो गया है. काजल पिछले साल फेल हो गयी. समीर क्या करूँ मैं ?

मैं उन दोनों को देख नहीं पा रही थी लेकिन उनकी बातें साफ सुन पा रही थी. उनकी बातें छुप कर सुनने में मुझे अजीब सा रोमांच हो रहा था. मुझे ये महसूस हो रहा था की समीर के नंदिनी से अच्छे संबंध हैं क्यूंकी वो उससे खुल कर अपने घर की बातें कर रही थी.

समीर – लेकिन नंदिनी मैडम, आप अपनी किस्मत तो नहीं बदल सकती ना. जो भी मुझसे बन पड़ता है मैं करता हूँ.

अब मैं थोड़ा और दरवाज़े की तरफ खिसकी. मैंने अपनी आँखों के कोनों से गुरुजी की तरफ देखा, वो यज्ञ की सामग्री को ठीक से रखने में व्यस्त थे. अब मैं नंदिनी और समीर को साफ देख पा रही थी. पति के सामने और अब पति की अनुपस्थिति में , नंदिनी के व्यवहार में मुझे साफ अंतर दिख रहा था. मुझे तो झटका सा लगा जब मैंने देखा की समीर ने नंदिनी को करीब करीब आलिंगन में लिया हुआ है.

मुझे विश्वास ही नहीं हुआ और ये दृश्य देखकर मेरी आँखें फैलकर बड़ी हो गयीं. समीर का एक हाथ नंदिनी की कमर और नितंबों पर घूम रहा था और वो भी उसके ऊपर ऐसे झुकी हुई थी की उसके नितंब बाहर को उभरे हुए थे और उसकी चूचियाँ समीर की तरफ बाहर को तनी हुई थी. एक औरत होने की वजह से मैं नंदिनी का वो पोज़ देखते ही उसकी नियत समझ गयी.

नंदिनी - मैं तुम पर दोष नहीं लगा रही समीर. ये तो मेरी किस्मत है जिसे मैं 5 साल से भुगत रही हूँ.

समीर चुप रहा. मैं अच्छी तरह से समझ रही थी की इन दोनों का कुछ तो नज़दीकी रिश्ता है , शायद जिस्मानी रिश्ता होगा क्यूंकी कोई भी शादीशुदा औरत किसी दूसरे मर्द को वैसे नहीं छूने देगी जैसे समीर ने उसे पकड़ा हुआ था. पति भी विकलांग था तो मुझे समझ आ रहा था की नंदिनी की कामेच्छायें अधूरी रह जाती होंगी.

अब मुझे साफ दिख रहा था की समीर का दायां हाथ नंदिनी के चौड़े नितंबों को साड़ी के ऊपर से दबा रहा है और नंदिनी भी उसके ऊपर और ज़्यादा झुके जा रही थी. समीर का बायां हाथ मुझे नहीं दिख पा रहा था. क्या वो नंदिनी की चूचियों पर था ? मेरे ख्याल से वहीं पर होगा क्यूंकी जिस तरह खड़े खड़े नंदिनी अपनी भारी गांड हिला रही थी उससे तो ऐसा ही लग रहा था. उन दोनों को उस कामुक पोज़ में देखकर ना जाने क्यूँ मुझे बहुत मज़ा आ रहा था.

समीर – नंदिनी मैडम, चलो अंदर चलते हैं नहीं तो गुरुजी…….

नंदिनी – हाँ हाँ चलो. कुमार भी हॉल से चुपचाप यहाँ आ सकता है.

मुझे मालूम चल गया था की अब ये दोनों पूजा घर में आ रहे हैं तो मैंने फूलों के काम में व्यस्त होने का दिखावा किया. पहले समीर अंदर आया उसके बाद नंदिनी आई.

गुरुजी – समीर नंदिनी की नाड़ी तेज चल रही है क्या ?

समीर – नहीं गुरुजी. नॉर्मल है.

नंदिनी – गुरुजी , काजल को यहाँ कब बुलाना है ?

गुरुजी – शुरू में तुम तीनो की यहाँ ज़रूरत पड़ेगी. जब बुलाना होगा तो मैं समीर को भेज दूँगा. अभी यहाँ सब ठीक करने में कम से कम आधा घंटा और लगेगा. 

नंदिनी – ठीक है गुरुजी.

गुरुजी – तुम्हें तो मालूम है , यज्ञ के लिए तुम लोगों को साफ सुथरे सफेद कपड़ों में बैठना होगा.

नंदिनी – हाँ गुरुजी , मुझे याद है.

उसके बाद आधे घंटे में यज्ञ के लिए सब तैयारी हो गयी. कमरे के बीच में अग्नि कुंड में आग जलाई गयी. उसके पीछे लिंगा महाराज का चित्र रखा हुआ था. यज्ञ के लिए बहुत सी सामग्री वहाँ पर बड़े करीने से रखी हुई थी. मैंने मन ही मन उस सारे अरेंजमेंट की तारीफ की. फिर समीर ने पूजा घर का दरवाज़ा बंद कर दिया और गुरुजी ने यज्ञ शुरू कर दिया. उस समय रात के 9 बजे थे. यज्ञ के लिए चंदन की अगरबत्तियाँ जलाई गयी थीं. गुरुजी अग्नि कुंड के सामने बैठे थे , समीर उनके बाएं तरफ और मैं दायीं तरफ बैठी थी. गुरुजी के ज़ोर ज़ोर से मंत्र पढ़ने से कमरे का माहौल बदल गया. 

समीर ने गुप्ता परिवार को पहले ही बुला लिया था. कुमार ने सफेद कुर्ता पैजामा पहना हुआ था. वो अपनी पत्नी के ऊपर झुका हुआ था और थोड़ा कांप रहा था. नंदिनी में एकदम से बदलाव आ गया था. अपने पति को पूजा घर लाते हुए वो अपने पति का बड़ा ख्याल रखने वाली पत्नी लग रही थी. उसने अपने कपड़े बदल लिए थे और अब वो सफेद सूती साड़ी और सफेद ब्लाउज पहने हुए थी जो बिल्कुल पारदर्शी था. उस पारदर्शी कपड़े के अंदर कोई भी उसकी सफेद ब्रा और गोरे बदन को देख सकता था. काजल ने कढ़ाई वाला सफेद सलवार सूट पहना हुआ था. उसने चुनरी नहीं डाली हुई थी और उस टाइट सूट में वो आकर्षक लग रही थी. वो तीनो हमारे सामने अग्नि कुंड की दूसरी तरफ बैठे हुए थे.

शुरू में करीब 20 मिनट तक मंत्रोचार और पूजा पाठ होता रहा. मुझे कुछ नहीं करना पड़ा.कमरा छोटा था इसलिए अगरबत्ती के धुएं और यज्ञ की आग से धुएं से भरने लगा. मैं अग्नि के नज़दीक़ बैठी थी तो मुझे पसीना आने लगा और मेरी कांख और पीठ पसीने से गीले हो गये. 

गुरुजी – अब मैं काजल के लिए व्यक्तिगत अनुष्ठान शुरू करूँगा. माता पिता दोनों को इसमें एक एक कर भाग लेना होगा. उसके बाद मुख्य अनुष्ठान में सिर्फ़ काजल बेटी को ही भाग लेना होगा.
Reply
01-17-2019, 01:57 PM,
#43
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
गुरुजी – अब मैं काजल के लिए व्यक्तिगत अनुष्ठान शुरू करूँगा. माता पिता दोनों को इसमें एक एक कर भाग लेना होगा. उसके बाद मुख्य यज्ञ में सिर्फ़ काजल बेटी को ही भाग लेना होगा.

कुमार – गुरुजी, अगर आप मुझसे शुरू करें तो ….

गुरुजी – हाँ कुमार, मैं तुमको बेवजह कष्ट नहीं देना चाहता. मैं तुमसे ही शुरू करूँगा और फिर तुम आराम कर सकते हो.

कुमार – धन्यवाद गुरुजी.

नंदिनी – गुरुजी , जब कुमार का काम पूरा हो जाए तो मुझे बुला लेना.

गुरुजी ने सर हिलाकर हामी भर दी. नंदिनी और काजल पूजाघर से चले गये और समीर ने कमरे का दरवाज़ा बंद कर दिया.

कुमार फिर से मुझे घूर रहा था लेकिन मेरा ध्यान अपने पसीने पर ज़्यादा था. मेरा ब्लाउज भीग कर गीला हो गया था. मैंने अपने पल्लू से गर्दन और पीठ का पसीना पोंछ दिया. तभी पहली बार कुमार ने मुझसे बात की.

कुमार – गुरुजी , मुझे लगता है रश्मि को गर्मी लग रही है. हम ये दरवाज़ा खुला नहीं रख सकते क्या ?

मुझे हैरानी हुई की उसने सीधे मेरे नाम से मुझे संबोधित किया. मैं समझ गयी थी की वो मुझे बड़े गौर से देख रहा था की मुझे पसीना आ रहा है , इससे मुझे थोड़ी इरिटेशन हुई.

गुरुजी – नहीं कुमार. उससे ध्यान भटकेगा.

कुमार – जी. सही कहा.

गुरुजी – रश्मि , अब यज्ञ में तुम कुमार का माध्यम बनोगी.

मैं बेवकूफ की तरह पलकें झपका रही थी क्यूंकि मुझे पता ही नहीं था की माध्यम बनकर मुझे करना क्या होगा ?

गुरुजी – कुमार और रश्मि मेरी बायीं तरफ आओ. समीर तुम भोग तैयार करो.

समीर भोग तैयार करने लगा. अब मुझे कुमार को खड़े होने में मदद करने जाना पड़ा. मैं अपनी जगह से उठ कर खड़ी हो गयी . बैठने से मेरी पेटीकोट और साड़ी मेरे नितंबों में फँस गयी थी तो मुझे उन तीन मर्दों के सामने अपने हाथ पीछे ले जाकर कपड़े ठीक करने पड़े. फिर मैं सामने बैठे कुमार के पास गयी.

“गुप्ताजी आप खुद से खड़े हो जाओगे ?”

कुमार – नहीं रश्मि, मुझे तुम्हारी सहायता चाहिए.

वो फिर से सीधा मेरा नाम ले रहा था तो मेरी खीझ बढ़ रही थी लेकिन गुरुजी के सामने मैं उसे टोक भी नहीं सकती थी. मेरे कुछ करने से पहले ही उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और दूसरे हाथ से अपनी छड़ी टेककर खड़ा होने लगा. मैंने उसका हाथ और कंधा पकड़कर उसे उठने में मदद की. चलते समय वो बहुत काँप रहा था , उसकी विकलांगता देखकर मुझे बुरा लगा. मैंने देखा था की उसने नंदिनी के कंधे का सहारा लिया हुआ था तो मैंने भी अपना कंधा आगे कर दिया. मेरे कंधे में हाथ रखकर वो थोड़ा ठीक से चलने लगा. 

गुरुजी – रश्मि इस थाली को पकड़ो और इसे अग्निदेव को चढ़ाओ. कुमार तुम रश्मि को पीछे से पकड़ो और जो मंत्र मैं बताऊंगा , उसे रश्मि के कान में धीमे से बोलो. रश्मि माध्यम के रूप में तुम्हें उस मंत्र को ज़ोर से अग्निदेव के समक्ष बोलना है. ठीक है ?

“जी गुरुजी.”

मैंने गुरुजी से थाली ले ली और अग्नि के सामने खड़ी हो गयी. अब मैं गुरुजी के ठीक सामने अग्निकुण्ड के दूसरी तरफ खड़ी थी. मैंने देखा कुमार मेरे पीछे छड़ी के सहारे खड़ा था.

गुरुजी – कुमार , छड़ी को रख दो और एक हाथ में इस किताब को पकड़ो.

मैंने तुरंत ही अपनी कमर में उसकी गरम अंगुलियों की पकड़ महसूस की. उसकी अंगुलियां थोड़ी मेरी साड़ी के ऊपर थीं और थोड़ी मेरे नंगे पेट पर. मुझे समझ आ रहा था की छड़ी हटाने के बाद उसे किसी सहारे की ज़रूरत पड़ेगी, लेकिन उसके ऐसे पकड़ने से मेरे पूरे बदन में कंपकपी दौड़ गयी. मुझे अजीब लगा और मैंने प्रश्नवाचक निगाहों से गुरुजी को देखा. शुक्र है की गुरुजी समझ गये की मैं क्या कहना चाह रही हूँ.

गुरुजी – कुमार , रश्मि का कंधा पकड़ो और किताब में जहाँ पर निशान लगा है उस मंत्र को रश्मि के कान में बोलना शुरू करो.

कुमार – जी गुरुजी.

उसने मेरी कमर से हाथ हटा लिया और मेरे कंधे को पकड़ लिया. 

गुरुजी – रश्मि तुम मंत्र को ज़ोर से अग्निदेव के समक्ष बोलोगी और मैं उसे लिंगा महाराज के समक्ष दोहराऊंगा. तुम दोनों आँखें बंद कर लो. जय लिंगा महाराज.

मैंने आँखें बंद कर ली और अपने कंधे पर कुमार की गरम साँसें महसूस की. वो मेरे कान में मंत्र बोलने लगा और मैंने ज़ोर से उस मंत्र का जाप कर दिया और फिर गुरुजी ने और ज़ोर से उसे दोहरा दिया. शुरू में कुछ देर तक ऐसे चलता रहा फिर मुझे लगा की मेरे कान में मंत्र बोलते वक़्त कुमार मेरे और नज़दीक़ आ रहा है. मैंने पहले तो उसकी विकलांगता की वजह से इस पर ध्यान नहीं दिया. मैंने उसके घुटने अपनी जांघों को छूते हुए महसूस किए फिर उसका लंड मेरे नितंबों को छूने लगा. मैंने थोड़ा आगे खिसकने की कोशिश की लेकिन आगे अग्निकुण्ड था. धीरे धीरे मैंने साफ तौर पर महसूस किया की वो मेरे सुडौल नितंबों पर अपने लंड को दबाने की कोशिश कर रहा था.

मैं मन ही मन अपने को कोसने लगी की कुछ ही मिनट पहले मैं इस आदमी की विकलांगता पर दुखी हो रही थी और अब ये अपना खड़ा लंड मेरे नितंबों में चुभो रहा है. मैं सोच रही थी की अब क्या करूँ ? क्या मैं इसको एक थप्पड़ मार दूं और सबक सीखा दूं ? लेकिन मैं वहाँ यज्ञ के दौरान कोई बखेड़ा खड़ा करना नहीं चाहती थी. इसलिए मैं चुप रही और यज्ञ में ध्यान लगाने की कोशिश करने लगी. लेकिन वो कमीना इतने में ही नहीं रुका. अब मंत्र पढ़ते समय वो मेरे कान को अपने होठों से छूने लगा. मुझे अनकंफर्टबल फील होने लगा और मैं कामोत्तेजित होने लगी क्यूंकी उसका कड़ा लंड मेरी मुलायम गांड में लगातार चुभ रहा था और उसके होंठ मेरे कान को छू रहे थे. स्वाभाविक रूप से मेरे बदन की गर्मी बढ़ने लगी.

खुशकिस्मती से कुछ मिनट बाद मंत्र पढ़ने का काम पूरा हो गया. मैंने राहत की साँस ली. लेकिन वो राहत ज़्यादा देर तक नहीं रही.

गुरुजी – धन्यवाद रश्मि. तुमने बहुत अच्छे से किया. अब ये थाली मुझे दे दो. ये कटोरा पकड़ लो और इसमें से बहुत धीरे धीरे तेल अग्नि में चढ़ाओ. कुमार तुम भी इसके साथ ही कटोरा पकड़ लो.

मैं गुरुजी से कटोरा लेने झुकी और उस चक्कर में ये भूल गयी की सहारे के लिए कुमार ने मेरे कंधे पर हाथ रखा हुआ है. मेरे आगे झुकने से उसका हाथ मेरे कंधे से छूट गया और उसका संतुलन गड़बड़ा गया.

गुरुजी – रश्मि, उसे पकड़ो.

गुरुजी एकदम से चिल्लाए. मुझे अपनी ग़लती का एहसास हुआ और मैं तुरंत पीछे मुड़ने को हुई. लेकिन मैं पूरी तरह पीछे मुड़ कर उसे पकड़ पाती उससे पहले ही वो मेरी पीठ में गिर गया. मैंने उसे चलते समय काँपते हुए देखा था इसलिए मुझे सावधान रहना चाहिए था. कुमार मेरे जवान बदन के ऊपर झुक गया और उसका चेहरा मेरी गर्दन के पास आ गिरा. गिरने से बचने के लिए उसने मुझे पीछे से आलिंगन कर लिया.

“आउच…….”

जब वो मेरे ऊपर गिरा तो मेरे मुँह से खुद ही आउच निकल गया. वैसे देखने वाले को ये लगेगा की वो मेरे ऊपर गिर गया और अब सहारे के लिए मेरी कमर पकड़े हुए है लेकिन असलियत मुझे मालूम पड़ रही थी. कुछ देर से मैं उसका घूरना और उसकी छेड़छाड़ सहन कर रही थी पर इस बार तो उसने सारी हदें पार कर दी. मेरी पीठ में ब्लाउज के U कट के ऊपर उसकी जीभ और होंठ मुझे महसूस हुए और उसकी नाक मेरी गर्दन के निचले हिस्से पर छू रही थी. जब सहारे के लिए उसने मुझे पकड़ लिया तो उसके दाएं हाथ ने मेरी बाँह पकड़ ली लेकिन उसके बाएं हाथ ने मुझे पीछे से आलिंगन करके मेरी पैंटी के पास पकड़ लिया. मैं जल्दी से कुछ ही सेकेंड्स में संभल गयी लेकिन तब तक मैंने साड़ी के ऊपर से अपनी पैंटी के अंदर चूत पर उसके हाथ का दबाव महसूस किया और मेरे ब्लाउज के ऊपर नंगी पीठ को उसने अपनी जीभ से चाट लिया. 

कुमार – सॉरी रश्मि. तुम अचानक झुक गयी और मैं संतुलन खो बैठा.

मुझे उसके व्यवहार से बहुत इरिटेशन हो रही थी फिर भी मुझे माफी माँगनी पड़ी. वो इतनी बड़ी उमर का था और ऊपर से विकलांग भी था और ऐसा अशिष्ट व्यवहार कर रहा था. मैं गुरुजी की वजह से कुछ बोल नहीं पाई वरना मन तो कर रहा था इस कमीने को कस के झापड़ लगा दूं.

गुरुजी – कुमार तुम ठीक हो ?

कुमार – हाँ गुरुजी. मैंने सही समय पर रश्मि को पकड़ लिया था.

गुरुजी – चलो कोई बात नहीं. रश्मि, मैं मंत्र पढूंगा और तुम तेल चढ़ाना. काजल की पढ़ाई के लिए हम पहले अग्निदेव की पूजा करेंगे और फिर लिंगा महाराज की.

हमने हामी भर दी और कुमार फिर से मेरे नज़दीक़ आ गया और मेरे पीछे से कटोरा पकड़ लिया. इस बार उसके पूरे बदन का भार मेरे ऊपर पड़ रहा था और उसकी अंगुलियां मेरी अंगुलियों को छू रही थीं. गुरुजी ने ज़ोर ज़ोर से मंत्र पढ़ने शुरू किए और मैं कटोरे से यज्ञ की अग्नि में तेल चढ़ाने लगी. . मुझे साफ महसूस हो रहा था की अब कुमार बिना किसी रुकावट के पीछे से मेरे पूरे बदन को महसूस कर रहा है. मेरे सुडौल नितंबों पर वो हल्के से धक्के भी लगा रहा था. उस कमीने की इन हरकतों से मैं कामोत्तेजित होने लगी थी.

जब मैं अग्निकुण्ड में तेल डालने लगी तो उसमे तेज लपटें उठने लगी इसलिए मुझे थोड़ा सा पीछे को खिसकना पड़ा. इससे कुमार के और भी मज़े आ गये और वो मेरी साड़ी के बाहर से अपना सख़्त लंड चुभाने लगा. उसने मेरे पीछे से कटोरा पकड़ा हुआ था तो उसकी कोहनियां मुझे साइड्स से दबा रही थी, एक तरह से उसने मुझे पीछे से आलिंगन करके कटोरा पकड़ा हुआ था और उसका सारा वज़न मुझ पर पड़ रहा था. गुरुजी मंत्र पढ़ते रहे और मैं बहुत धीरे से अग्नि में तेल डालती रही. तेल चढ़ाने का ये काम लंबा खिंच रहा था.

मौका देखकर कुमार ने कटोरे में अपनी अंगुलियों को मेरी अंगुलियों पर इतनी ज़ोर से कस लिया की मुझे थोड़ा पीछे मुड़ के गुस्से से उसको घूरना पड़ा. वो कमीनेपन से मुस्कुराया और मेरी खीझ और भी बढ़ गयी जबकि वास्तव में मर्दाने टच से मुझे कामानंद मिल रहा था. मैंने गुरुजी को देखा पर वो आँख बंद कर मंत्र पढ़ रहे थे और समीर एक कोने में भोग बना रहा था इस तरह किसी का ध्यान हम पर नहीं था. तभी वो मेरे कान में फुसफुसाया……

कुमार – रश्मि , मैं कटोरे से एक हाथ हटा रहा हूँ. मुझे खुजली लग रही है.

मुझे क्या मालूम की उसे कहाँ पर खुजली लग रही है. उसने अपना दांया हाथ कटोरे से हटा लिया और अपने लंड को खुज़लाने लगा. मुझे ये बात जानने के लिए पीछे मुड़ के देखने की ज़रूरत नहीं थी क्यूंकी उसका हाथ मुझे अपने नितंबों और उसके लंड के बीच महसूस हो रहा था. वो बेशरम बुड्ढा अपने लंड पर खुज़ला रहा था और अब मैं समझ गयी थी की उसे कहाँ खुजली लगी थी. खुज़लाने के बाद वो अपना हाथ कटोरे पर वापस नहीं लाया और अपने हाथ को मेरे बड़े नितंबों पर फिराने लगा.

उसने मेरे सुडौल नितंबों को अपने हाथ में पकड़कर दबाया तो मेरे निपल तनकर कड़क हो गये. मेरी चूचियां ब्रा में तन गयीं. मैंने दोनों हाथों से तेल का कटोरा पकड़ा हुआ था , उसकी इस अश्लील हरकत को बंद करवाने के लिए मुझे पीछे मूड कर गुस्से से उसे घूरना पड़ा. उसने तुरंत अपना हाथ मेरे नितंबों से हटा लिया और फिर से कटोरा पकड़ लिया. उसके एक दो मिनट बाद तेल चढ़ाने का वो काम खत्म हो गया. यज्ञ की अग्नि के साथ साथ कुमार की मेरे बदन से छेड़छाड़ से अब मुझे बहुत पसीना आने लगा था.

गुरुजी – अग्निदेव की पूजा पूरी हो चुकी है. अब हम लिंगा महाराज की पूजा करेंगे. जय लिंगा महाराज.
Reply
01-17-2019, 01:57 PM,
#44
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
गुरुजी – अग्निदेव की पूजा पूरी हो चुकी है. अब हम लिंगा महाराज की पूजा करेंगे. जय लिंगा महाराज.

कुमार (गुप्ताजी) और मैंने भी जय लिंगा महाराज बोला. गुरुजी मंत्र पढ़ते हुए विभिन्न प्रकार की यज्ञ सामग्री को अग्निकुण्ड में चढ़ाने लगे. करीब 5 मिनट तक ऐसा चलता रहा. समीर अभी भी भोग को तैयार करने में व्यस्त था.

गुरुजी – रश्मि, मैं जानता हूँ की यज्ञ का ये भाग तुम्हें थोड़ा अजीब लगेगा लेकिन एक माध्यम को ये कष्ट उठाना ही पड़ता है. तुम्हें कुमार के लिए लिंगा महाराज की पूजा करनी होगी.

मुझे गुरुजी की बात समझ में नहीं आई की पूजा करने में अजीब क्यूँ लगेगा ? गुरुजी ने कष्ट की बात क्यूँ की ? मैंने गुरुजी की तरफ संशय से देखा.

गुरुजी – माध्यम के रूप में तुम कुमार को साथ लेकर फर्श पर लेटकर लिंगा महाराज को प्रणाम करोगी. तुम्हारी नाभि और घुटने फर्श को छूने चाहिए.

मैंने हामी भर दी जबकि मुझे अभी भी ठीक से बात समझ नहीं आई थी. मैंने कुमार को छड़ी दे दी और अब वो छड़ी के सहारे था. गुरुजी ने गंगा जल से मेरे हाथ धुलाए और मुझे वो जगह बताई जहाँ पर मुझे प्रणाम करना था. मैं वहाँ पर गयी और घुटनों के बल बैठ गयी. फिर मैं पेट के बल फर्श पर लेट गयी.

गुरुजी - प्रणाम के लिए अपने हाथ सर के आगे लंबे करो. तुम्हारी नाभि फर्श को छू रही है ? मैं देखता हूँ.

गुरुजी ने मुझे कुछ कहने का मौका ही नहीं दिया और मेरे पेट से साड़ी हटाकर वहाँ अपनी एक अंगुली डालकर देखने लगे की मेरी नाभि फर्श को छू रही है या नहीं ? मैंने अपने नितंबों को थोड़ा सा ऊपर को उठाया ताकि गुरुजी मेरे पेट के नीचे अंगुली से चेक कर सकें. उनकी अंगुली मेरी नाभि पर लगी तो मुझे गुदगुदी होने लगी लेकिन मैंने जैसे तैसे अपने को काबू में रखा.

गुरुजी – हाँ, ठीक है.

ऐसा कहते हुए उन्होने मेरे पेट के नीचे से अंगुली निकाल ली और मेरे नितंबों पर थपथपा दिया. मैंने उनका इशारा समझकर अपने नितंब नीचे कर लिए. मैंने दोनों हाथ प्रणाम की मुद्रा में सर के आगे लंबे किए हुए थे. उन मर्दों के सामने मुझे ऐसे उल्टे लेटना भद्दा लग रहा था. फिर मैंने देखा गुरुजी कुमार को मेरे पास आने में मदद कर रहे थे. 

गुरुजी – रश्मि अब तुम कुमार की पूजा को लिंगा महाराज तक ले जाओगी.

“कैसे गुरुजी ?”

मुझे समझ नहीं आ रहा था की मुझे करना क्या है ? मैंने देखा गुरुजी कुमार को मेरे पास बैठने में मदद कर रहे हैं.

गुरुजी – रश्मि , मैंने तुम्हें बताया तो था. तुम्हें कुमार को साथ लेकर पूजा करनी है.

गुरुजी को दुबारा बताना पड़ा इसलिए वो थोड़े चिड़चिड़ा से गये थे लेकिन मैं उलझन में थी की करना क्या है ? साथ लेकर मतलब ? 

गुरुजी – कुमार तुम रश्मि की पीठ पर लेट जाओ और इस किताब में से रश्मि के कान में मंत्र पढ़ो.

कुमार – जी गुरुजी.

हे भगवान ! अब तो मुझे कुछ न कुछ कहना ही था. गुरुजी इस आदमी को मेरी पीठ में लेटने को कह रहे थे. ये ऐसा ही था जैसे मैं बेड पर उल्टी लेटी हूँ और मेरे पति मेरे ऊपर लेटकर मुझसे मज़ा ले रहे हों.

“गुरुजी, लेकिन ये…..”

गुरुजी - रश्मि, ये यज्ञ का नियम है और माध्यम को इसे ऐसे ही करना होता है.

“लेकिन गुरुजी, एक अंजान आदमी को इस तरह………....”

गुरुजी – रश्मि , जैसा मैं कह रहा हूँ वैसा ही करो.

गुरुजी तेज आवाज़ में आदेश देते हुए बोले. एकदम से उनके बोलने का अंदाज़ बदल गया था. अब कुछ और बोलने का साहस मुझमें नहीं था और मैंने चुपचाप जो हो रहा था उसे होने दिया.

गुरुजी – कुमार तुम किसका इंतज़ार कर रहे हो ? समय बर्बाद मत करो. काजल के यज्ञ के लिए शुभ समय मध्यरात्रि तक ही है.

मुझे अपनी पीठ पर कुमार चढते हुए महसूस हुआ. मैं बहुत शर्मिंदगी महसूस कर रही थी. गुरुजी ने उसको मेरे जवान बदन के ऊपर लेटने में मदद की. कितनी शरम की बात थी वो. मैं सोचने लगी अगर मेरे पति ये दृश्य देख लेते तो ज़रूर बेहोश हो जाते. मैंने साफ तौर पर महसूस किया की कुमार अपने लंड को मेरी गांड की दरार में फिट करने के लिए एडजस्ट कर रहा है. फिर मैंने उसके हाथ अपने कंधों को पकड़ते हुए महसूस किए , उसके पूरे बदन का भार मेरे ऊपर था. एक जवान शादीशुदा औरत के ऊपर ऐसे लेटने में उसे बहुत मज़ा आ रहा होगा.

गुरुजी - जय लिंगा महाराज. कुमार अब शुरू करो. रश्मि तुम ध्यान से मंत्र सुनो और ज़ोर से लिंगा महाराज के सामने बोलना.

मैंने देखा गुरुजी ने अपनी आँखें बंद कर ली. अब कुमार ने मेरे कान में मंत्र पढ़ना शुरू किया. लेकिन मैं ध्यान नहीं लगा पा रही थी. कौन औरत ध्यान लगा पाएगी जब ऐसे उसके ऊपर कोई आदमी लेटा हो. मेरे ऊपर लेटने से कुमार के तो मज़े हो गये , उसने तुरंत मेरी उस हालत का फायदा उठाना शुरू कर दिया. अब वो मेरे मुलायम नितंबों पर ज़्यादा ज़ोर डाल रहा था और अपने लंड को मेरी गांड की दरार में दबा रहा था. शुक्र था की मैंने पैंटी पहनी हुई थी जिससे उसका लंड दरार में ज़्यादा अंदर नहीं जा पा रहा था.

मेरे कान में मंत्र पढ़ते हुए उसकी आवाज़ काँप रही थी क्यूंकी वो धीरे से मेरी गांड पर धक्के लगा रहा था जैसे की मुझे चोद रहा हो. मुझे ज़ोर से मंत्र दोहराने पड़ रहे थे इसलिए मैंने अपनी आवाज़ को काबू में रखने की कोशिश की. गुरुजी ने अपनी आँखें बंद कर रखी थी और समीर हमारी तरफ पीठ करके भोग तैयार कर रहा था इसलिए उस विकलांग आदमी की मौज आ रखी थी. उसका लकड़ी वाला पैर मुझे अपने पैरों के ऊपर महसूस हो रहा था. पर उसको छोड़कर उस बुड्ढे में कोई कमी नहीं थी. धक्के लगाने की उसकी स्पीड बढ़ने लगी थी और उसके लंड का कड़कपन भी. 

अब मंत्र पढ़ने के बीच में गैप के दौरान कुमार मेरे कान और गालों पर अपनी जीभ और होंठ लगा रहा था. मैं जानती थी की मुझे उसे ये सब नहीं करने देना चाहिए लेकिन जिस तरह से गुरुजी ने थोड़ी देर पहले तेज आवाज़ में बोला था, उससे अनुष्ठान में बाधा डालने की मेरी हिम्मत नहीं हो रही थी. अब मैं गहरी साँसें ले रही थी और कुमार तो हाँफने लगा था. इस उमर में इतना आनंद उसके लिए काफ़ी था. तभी उसने कुछ ऐसा किया की मेरे दिल की धड़कनें रुक गयीं.

मैं अपनी बाँहें सर के आगे किए हुए प्रणाम की मुद्रा में लेटी हुई थी. मेरी चूचियाँ ब्लाउज के अंदर फर्श में दबी हुई थी. कुमार मेरे ऊपर लेटा हुआ था और उसने एक हाथ में किताब और दूसरे हाथ से मेरा कंधा पकड़ा हुआ था. कुमार ने देखा की गुरुजी की आँखें बंद हैं. अब उसने किताब फर्श में रख दी और अपने हाथ मेरे कंधे से हटाकर मेरे अगल बगल फर्श में रख दिए. अब उसके बदन का कुछ भार उसके हाथों पर पड़ने लगा , इससे मुझे थोड़ी राहत हुई क्यूंकी पहले उसका पूरा भार मेरे ऊपर पड़ रहा था. लेकिन ये राहत कुछ ही पल टिकी. कुछ ही पल बाद उसने अपने हाथों को अंदर की तरफ खिसकाया और मेरे ब्लाउज के बाहर से मेरी चूचियों को छुआ.

शरम, गुस्से और कामोत्तेजना से मैंने अपनी आँखें बंद कर लीं. जबसे यज्ञ शुरू हुआ था तबसे कुमार मेरे बदन से छेड़छाड़ कर रहा था और अब तक मैं भी कामोत्तेजित हो चुकी थी इसलिए उसके इस दुस्साहस का मैंने विरोध नहीं किया और मंत्र पढ़ने में व्यस्त होने का दिखावा किया. पहले तो वो हल्के से मेरी चूचियों को छू रहा था लेकिन जब उसने देखा की मैंने कोई रिएक्शन नहीं दिया और ज़ोर से मंत्र पढ़ने में व्यस्त हूँ तो उसकी हिम्मत बढ़ गयी.

उसके बदन के भार से वैसे ही मेरी चूचियाँ फर्श में दबी हुई थी अब उसने दोनों हाथों से उन्हें दबाना शुरू किया. कहीं ना कहीं मेरे मन के किसी कोने में मैं भी यही चाहती थी क्यूंकी अब मैं भी कामोत्तेजना महसूस कर रही थी. उसने मेरे बदन के ऊपरी हिस्से में अपने वजन को अपने हाथों पर डालकर मेरे ऊपर भार थोड़ा कम किया मैंने जैसे ही राहत के लिए अपना बदन थोड़ा ढीला किया उसने दोनों हाथों से साइड्स से मेरी बड़ी चूचियाँ दबोच लीं और उनकी सुडौलता और गोलाई का अंदाज़ा करने लगा. 

उस समय मुझे ऐसा महसूस हो रहा था की मेरा पति राजेश मेरे ऊपर लेटा हुआ है और मेरी जवान चूचियों को निचोड़ रहा है. घर पे राजेश अक्सर मेरे साथ ऐसा करता था और मुझे भी उसके ऐसे प्यार करने में बड़ा मज़ा आता था. राजेश दोनों हाथों को मेरे बदन के नीचे घुसा लेता था और फिर मेरी चूचियों को दोनों हथेलियों में दबोच लेता था और मेरे निपल्स को तब तक मरोड़ते रहता था जब तक की मैं नीचे से पूरी गीली ना हो जाऊँ.

शुक्र था की गुप्ताजी ने उतनी हिम्मत नहीं दिखाई शायद इसलिए क्यूंकी मैं किसी दूसरे की पत्नी थी. लेकिन साइड्स से मेरी चूचियों को दबाकर उसने अपने तो पूरे मज़े ले ही लिए. अब तो उत्तेजना से मेरी आवाज़ भी काँपने लगी थी और मुझे खुद ही नहीं मालूम था की मैं क्या जाप कर रही हूँ.

गुरुजी – जय लिंगा महाराज.

गुरुजी जैसे नींद से जागे हों और कुमार ने जल्दी से मेरी चूचियों से हाथ हटा लिए. उसकी गरम साँसें मेरी गर्दन, कंधे और कान में महसूस हो रही थी और मुझे और ज़्यादा कामोत्तेजित कर दे रही थीं. तभी मुझे एहसास हुआ की अब मंत्र पढ़ने का कार्य पूरा हो चुका है.

गुरुजी - कुमार ऐसे ही लेटे रहो और जो तुम काजल के लिए चाहते हो उसे एक लाइन में रश्मि के कान में बोलो.

कुमार – गुरुजी मैं बस ये चाहता हूँ की काजल 12 वीं के एग्जाम्स में पास हो जाए.

गुरुजी - ठीक है. रश्मि के कान में इसे पाँच बार बोलो और रश्मि तुम लिंगा महाराज के सामने दोहरा देना. तुम्हारे बाद मैं भी काजल के लिए प्रार्थना करूँगा और फिर मेरे बाद तुम बोलना. आया समझ में ?

मैंने और गुप्ताजी ने सहमति में सर हिला दिया.

गुरुजी - सब आँखें बंद कर लो और प्रार्थना करो.

ऐसा बोलकर गुरुजी ने आँखें बंद कर ली और फिर मैंने भी अपनी आँखें बंद कर ली.

कुमार – लिंगा महाराज, काजल 12 वीं के एग्जाम्स में पास हो जाए.

गुप्ताजी ने मेरे कान में ऐसा फुसफुसा के कह दिया. उसने ये बात कहते हुए अपने होंठ मेरे कान और गर्दन से छुआ दिए और मेरे सुडौल नितंबों को अपने बदन से दबा दिया. उसकी इस हरकत से लग रहा था की वो मुझसे कुछ और भी चाहता था. मैं समझ रही थी की उसको अब और क्या चाहिए , उसको मेरी चूचियाँ चाहिए थी. मैं तब तक बहुत गरम हो चुकी थी. मैंने अपनी बाँहों को थोड़ा अंदर को खींचा और कोहनी के बल थोड़ा सा उठी ताकि कुमार मेरी चूचियों को पकड़ सके. मैं काजल के लिए प्रार्थना को ज़ोर से बोल रही थी और गुरुजी उस प्रार्थना के साथ कुछ मंत्र पढ़ रहे थे.

मेरी आँखें बंद थी और तभी कुमार ने दोनों हाथों से मेरी चूचियाँ दबा दी. वो गहरी साँसें ले रहा था और पीछे से ऐसे धक्के लगा रहा था जैसे मुझे चोद रहा हो. मेरी उभरी हुई गांड में लगते हर धक्के से मेरी पैंटी गीली होती जा रही थी. मैंने ख्याल किया जब हम दोनों चुप होते थे और गुरुजी मंत्र पढ़ रहे होते थे उस समय कुमार के हाथ मेरे ब्लाउज में चूचियों को दबा रहे होते थे. मैं भी उसकी इस छेड़छाड़ का जवाब देने लगी थी और धीरे से अपने नितंबों को हिलाकर उसके लंड को महसूस कर रही थी.

जल्दी ही पाँच बार काजल के लिए प्रार्थना पूरी हो गयी . मैं सोच रही थी की अब क्या होने वाला है ?

गुरुजी – जय लिंगा महाराज.

गुप्ताजी ने मेरी गांड को चोदना बंद कर दिया और मेरे ऊपर चुपचाप लेटे रहा. मुझे अपनी गांड में उसका लंड साफ महसूस हो रहा था और अब तो मेरा मन हो रहा था की मैं पैंटी उतार दूँ क्यूंकी पैंटी की वजह से उसका लंड मेरी गांड की दरार में अंदर नहीं जा पा रहा था और इससे मुझे पूरा मज़ा नहीं मिल पा रहा था.

गुरुजी - ठीक है. अब थोड़ा विराम लेते हैं. फिर उसके बाद अंतिम भाग में काजल बेटी के लिए ध्यान लगाना होगा.

अब मुझे अपनी ब्रा और ब्लाउज ठीक करनी पड़ी क्यूंकी गुप्ताजी ने मेरी चूचियों को ऐसे दबाया था की मेरी चूचियाँ ब्रा के अंदर कड़क हो गयी थीं. मैं अपनी पैंटी उतारकर गुप्ताजी के कड़े लंड को अपनी गांड में पूरी तरह महसूस करने को भी बेताब हो रखी थी , तो मुझे एक तरीका सूझा.

“गुरुजी , क्या मैं एक बार बाथरूम जा सकती हूँ?”

गुरुजी मुस्कुराए और सर हिलाकर हामी भर दी. उनकी मुस्कुराहट ऐसी थी की जैसे उन्हें सब मालूम हो. जैसे उस कमरे में सबको मालूम हो की मैं बाथरूम क्यूँ जा रही हूँ. मैंने अपनी नज़रें झुका ली और कमरे से बाहर चली आई. लेकिन बाहर आकर मुझे ध्यान आया की बाथरूम कहाँ है ये तो मुझे मालूम ही नहीं है.

“समीर , बाथरूम किधर है ?”

उसी समय गुप्ताजी ने भी गुरुजी से बाथरूम जाने की इच्छा जताई.

गुरुजी – कुमार, तुम रश्मि को भी बाथरूम का रास्ता दिखा दो.

वो थोड़ा रुके फिर बोले…..

गुरुजी – ओह्ह…...तुम्हें तो वहाँ किसी की सहायता की ज़रूरत पड़ेगी. रश्मि तुम इसकी मदद कर दोगी ?
मैं इसके लिए तैयार नहीं थी और हकलाने लगी.

“पर………..वो………..ठीक है गुरुजी.”

मैं फिर से कमरे के अंदर गयी और कुमार को खड़े होने में मदद की. इस बार उसने मुझे अपनी बीवी की तरह पकड़ लिया और दूसरे हाथ में उसने छड़ी का सहारा लिया हुआ था.

कुमार – यहाँ को रश्मि.

उसने अपनी छड़ी से इशारा करके मुझे रास्ता बताया.
Reply
01-17-2019, 01:57 PM,
#45
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
मैं फिर से कमरे के अंदर गयी और कुमार (गुप्ताजी) को खड़े होने में मदद की. इस बार उसने सहारे के लिए मुझे अपनी बीवी की तरह कंधे में हाथ रखकर पकड़ लिया और दूसरे हाथ में उसने छड़ी का सहारा लिया हुआ था.

कुमार – इस तरफ , रश्मि.

उसने अपनी छड़ी से इशारा करके मुझे रास्ता बताया. अब हम पूजा घर से बाहर आकर सीढ़ियों के पास पहुँच गये. गुप्ताजी ने पीछे मुड़कर देखा शायद ये जानने के लिए की कोई आ तो नहीं रहा. सीढ़ियों से नीचे उतरते समय मैंने भी पीछे मुड़कर देखा पर कोई नहीं था. मैंने सोचा किसी को ना पाकर अब ये बुड्ढा मेरे साथ कुछ ना कुछ हरकत करेगा. मैं उससे अपेक्षा कर रही थी की शायद वो मेरी चूचियाँ पकड़ लेगा या मेरे नितंबों को मसल देगा या मुझे अपने आलिंगन में कस लेगा. इस विकलांग आदमी से मैं इससे ज़्यादा और क्या उम्मीद कर सकती थी. लेकिन गुप्ताजी ने मेरे साथ कुछ भी नहीं किया . मुझे बड़ी फ्रस्ट्रेशन हुई पर वो सीधा बाथरूम की तरफ चला जा रहा था. और फिर हम बाथरूम में पहुँच गये.

मैं करूँ तो क्या करूँ ? मैं उस बुड्ढे को मन ही मन कोस रही थी. पूजा घर में तो बहुत छेड़छाड़ कर रहा था पर अब अकेले में वो वास्तव में विकलांग लग रहा था. उसने मुझे गरम कर दिया था और अब मैं किसी मर्द के आलिंगन में समा जाने को बेकरार हो रखी थी. और ये बुड्ढा अपना पैर घिसटते हुए सीधे बाथरूम की तरफ चला जा रहा था.

मैंने चिड़चिड़ी आवाज़ में उससे कहा, “आप यहीं रूको. मैं फ्रेश होकर आती हूँ.”

कुमार : लेकिन रश्मि मैं अकेला खड़ा नहीं रह सकता. मैं गिर जाऊँगा.

“तो क्या करूँ फिर ?”

मैं झल्लाते हुए बोली . मुझे मालूम नहीं था की ये आदमी चाहता क्या है.

कुमार : हम दोनों को साथ ही बाथरूम जाना होगा.

“क्या ???”

मैंने गुस्से से उसकी तरफ देखा. ये बुड्ढा सोच क्या रहा है ? ठीक है, मैंने थोड़ी देर उसकी छेड़छाड़ सहन कर ली , लेकिन वो तो गुरुजी ने उसको मेरे ऊपर लिटा दिया था तो मैं कर ही क्या सकती थी. पर इसका मतलब ये नहीं की ये मुझसे कुछ भी कह देगा और मैं मान लूँगी.

“क्या मतलब ?”

कुमार – रश्मि प्लीज़ नाराज़ मत हो. तुम मेरी हालत देख ही रही हो. प्लीज़ मुझे बाथरूम में पकड़े रहना.

“हाँ ठीक है. मैंने तो सोचा…..”

कुमार कुछ और नहीं बोला और धीरे धीरे बाथरूम के अंदर जाने लगा. मैं भी उसके साथ थी. बाथरूम के अंदर आकर कुमार ने दीवार में बने हुक में अपनी छड़ी लटका दी. मैं बाथरूम का दरवाज़ा बंद करने लगी तब तक उसने अपने पैजामे का नाड़ा खोलकर अंडरवियर नीचे किया और अपना अधखड़ा लंड बाहर निकाल लिया. लंड देखकर मैं अपने ऊपर काबू नहीं रख पाई और जल्दी से उसका लंड अपने हाथ में पकड़ लिया , लेकिन ऐसे दिखाया जैसे मैं पेशाब करने में उसकी मदद के लिए ऐसा कर रही हूँ. उसने बाएं हाथ से दीवार का सहारा लिया हुआ था और दायां हाथ मेरे कंधे पर रखा हुआ था. मेरे हाथ में पकड़ने और हिलाने से उसके अधखड़े लंड में जान आने लगी.

उसका दायां हाथ धीरे धीरे मेरे कंधे से खिसककर मेरी पीठ मे गया फिर कांख के नीचे से होता हुआ मेरी दायीं चूची को छूने लगा. उसने मेरा पल्लू थोड़ा सा खिसका दिया ताकि वो मेरे ब्लाउज में कसी हुई चूचियों और उनके बीच की गहरी खाई को देख सके. मैं अब दोनों हाथों से उसका लंड हिलाने लगी थी और मुझे हैरानी हुई की इस उमर में भी कुछ पलों में ही उसका लंड कड़क होकर एकदम तन गया था. मैं समझती थी की उमर बढ़ने के साथ मर्दों का लंड खड़ा होने में ज़्यादा समय लेता है लेकिन इस बुड्ढे का तो कुछ ही सेकेंड्स में पूरी तरह से खड़ा हो गया था. उसका साइज़ मेरे पति के लंड के बराबर ही था, मैंने जल्दी से उसके सुपाड़े से खाल को पीछे खिसका दिया. 

मैं थोड़ा झुकी हुई थी और गुप्ताजी के खड़े लंड को आगे पीछे हिला कर सहला रही थी. शायद उसकी उमर को देखते हुए उसके लिए ये बहुत ज़्यादा हो गया था और अब वो बहुत कामोत्तेजित हो गया. पहले तो वो गहरी साँसें ले रहा था और मेरी दायीं चूची को ज़ोर से दबा रहा था. लेकिन अब उसने अचानक दीवार से अपना बायां हाथ हटा लिया और मेरी चूची से भी दायां हाथ हटा लिया और दोनों हाथों से मेरा चेहरा पकड़कर अपने चेहरे की तरफ खींचा. स्वाभाविक रूप से दोनों हाथ से सहारा हटते ही उसका संतुलन बिगड़ गया और वो मेरे बदन पर झुक गया , मैं भी अचानक से उसका वजन नहीं ले पाई , जैसे तैसे मैंने उसको सम्हाला. सम्हलते ही उसने ज़बरदस्ती मुझे चूमना शुरू कर दिया. उसकी दाढ़ी मुझे अपनी नाक, होठों , गालों और ठुड्डी में हर जगह चुभने लगी और इससे एक अजीब सी गुदगुदी होने लगी. मुझे कभी किसी दाढ़ीवाले आदमी ने नहीं चूमा था तो मुझे पता नहीं था की कैसा फील होता है.

मैंने उसकी लार से गीले होठों से अपने होंठ छुड़ाने की कोशिश की. मैंने ख्याल किया की वैसे तो गुप्ताजी विकलांग था लेकिन उसकी पकड़ बहुत मजबूत थी. मैंने होंठ हटाने की कोशिश की तो वो और ज़ोर से मुझे चूमने लगा और मेरे मुँह के अंदर अपनी जीभ डाल दी और मुझे बालों से पकड़ लिया ताकि मैं अपना सर ना हिला सकूँ. मैं अब भी उसका लंड अपने हाथों में पकड़े हुए थी. लेकिन फिर उसने जो किया उससे मुझे उसका लंड छोड़ना पड़ गया. अचानक उसने एक हाथ मेरे सर से हटा लिया और मेरी साड़ी और पेटीकोट को ऊपर उठाने लगा.

मेरे कुछ समझने तक तो उसने मेरी साड़ी और पेटीकोट मेरी कमर तक उठा दी और मेरी पैंटी दिखने लगी. मैंने तुरंत उसका लंड छोड़ दिया और अपनी इज़्ज़त बचाने का प्रयास करने लगी. मैंने साड़ी और पेटीकोट को अपने नितंबों से नीचे खींचने की कोशिश की पर वो ज़बरदस्ती उनको ऊपर को खींच रहा था. अब उसने मेरे बाल छोड़ दिए और दोनों हाथों से मेरे कपड़े ऊपर करके मेरी गांड को नंगी करने पर तुल गया . उसके हाथों की ताकत देखकर मेरा विरोध कमज़ोर पड़ गया. 

वो अब भी मुझे चूम रहा था और मेरे होठों को चबा रहा था और मुझे नीचे से नंगी करके अब उसने मुझे अपने आलिंगन में कस के पकड़ लिया. मैं उसकी बाँहों में थी और छोटी सी पैंटी में मेरी गांड साफ दिख रही थी. एक पल के लिए उसने मेरे होंठ अलग किए . मैं बेतहाशा हाँफ रही थी . मेरे मुँह से बस यही निकल पाया…..

“प्लीज़ मत करो …..”

उसने मेरी विनती अनसुनी कर दी. अब उसने मेरी पैंटी के एलास्टिक में हाथ डाला और उसे नीचे करने लगा. मैं समझ गयी थी की ये बुड्ढा मुझे पूरी नंगी करने पर आमादा है. मैं कामोत्तेजित ज़रूर थी पर मैंने होश नहीं खोए थे और एक अंजाने आदमी, वो भी बुड्ढा, उसके सामने नंगी होने का मेरा कोई इरादा नहीं था. मैंने सोचा इस हरामी बुड्ढे से पीछा छुड़ाने का एक ही तरीका है की मैं इसका पानी निकाल दूँ. तो मैंने उसके तने हुए लंड को सहलाना और मूठ मारना शुरू कर दिया.

मैं उसके लंड को हिला हिला कर मूठ मारती रही और उसका लंड फनफनाने लगा की अब पानी छोड़ ही देगा. पर तब तक गुप्ताजी ने अपनी इच्छा पूरी कर ही ली. उसने मेरी पैंटी को मेरे नितंबों से नीचे खिसकाकर जांघों तक कर दिया और मेरे बड़े नितंबों को मसलने लगा. उसने मेरी साड़ी और पेटीकोट को कमर में खोस दिया था और अब पैंटी नीचे करके मेरे मुलायम नितंबों को निचोड़ रहा था. ये तो स्वाभाविक ही था की अब वो मेरी चूत में अपना लंड घुसाने को उत्सुक था लेकिन मेरी मेहनत आख़िर रंग लाई और मेरे फुसलाने से ठीक समय पर उसके लंड ने पानी छोड़ दिया. मेरे हाथ उसके वीर्य से सन गये . गुप्ताजी बहुत खिन्न लग रहा था की वो अपने को झड़ने से रोक नहीं पाया. 

बाथरूम के फर्श पर उसका सफेद वीर्य गिर गया था. मैंने उसको दीवार के सहारे खड़ा किया और उसके हाथ में छड़ी पकड़ा दी. अब मैं उसकी पकड़ से आज़ाद थी. देखने से ही लग रहा था की उसका मूड ऑफ हो गया है , स्वाभाविक था क्यूंकि झड़ जाने से उसकी इच्छा अधूरी रह गयी थी. मैंने जल्दी से अपनी पैंटी जांघों से ऊपर करने की कोशिश की लेकिन उस कम्बख़्त ने जल्दबाज़ी में ऐसे नीचे को खींची थी की अब वो गोल मोल हो गयी थी. अब मुझे पैंटी उतारनी पड़ी क्यूंकि मेरी साड़ी और पेटीकोट मेरी कमर तक उठे हुए थे और एक मर्द के सामने मैं अपनी जांघों तक उतरी हुई पैंटी के घुमाव ठीक करने तक नंगी थोड़ी खड़ी रहती. मैंने अपनी साड़ी कमर से निकाली और नीचे कर दी और फिर पैंटी उतार कर हुक में लटका दी. मैं अपने कपड़े ठीकठाक करने लगी. 

गुप्ताजी दीवार के सहारे खड़े खड़े मुझे ही देख रहा था. झड़ने के बाद उसका लंड सिकुड़कर छोटा हो गया था. मैंने उसका पैजामा ऊपर किया और नाड़ा बाँध दिया. ऐसा लग रहा था की झड़ने के बाद भी उसकी गर्मी अभी पूरी शांत नहीं हुई है क्यूंकी जब मैं उसके पैजामे का नाड़ा बाँध रही थी तो उसने मेरी दोनों चूचियों को पकड़ लिया और सहलाने लगा. मैंने उसकी इस हरकत पर कुछ नहीं कहा पर मुझे मालूम था की ये कितना अश्लील लग रहा होगा की एक जवान औरत एक बुड्ढे का नाड़ा बाँध रही है और वो ब्लाउज के बाहर से उसकी चूचियाँ पकड़कर दबा रहा है.

उसका काम हो गया था अब मुझे भी पेशाब लगी थी. 

“थोड़ी देर ऐसे ही खड़े रह सकोगे ?”

गुप्ताजी ने सर हिला दिया. मैं बगल के टॉयलेट में गयी और साड़ी उठाकर बैठ गयी. पेशाब निकलने से आती हुई सीटी जैसी आवाज़ गुप्ताजी को साफ सुनाई दे रही होगी क्यूंकी वो पास में ही खड़ा था. मुझे देर तक पेशाब आई और बेशर्मी से सीटी जैसी आवाज़ निकालते हुए मैं करती रही और वो हरामी बुड्ढा सब कुछ साफ सुन रहा होगा. पेशाब निकल जाने के बाद मुझे ऐसी राहत मिली की पूछो मत. मैं उठी और अपनी साड़ी नीचे की और गुप्ताजी के पास आ गयी. मैंने पैंटी उतार दी थी तो मुझे महसूस हुआ की पेशाब की कुछ बूँदे मेरी अंदरूनी जांघों में बह गयी हैं. मैंने अपने दाएं हाथ से जांघों पर साड़ी दबा दी ताकि पेटीकोट से गीलापन सूख जाए.

मैं गुप्ताजी के साथ बाथरूम से बाहर आने लगी तभी मुझे ध्यान आया की मेरी पैंटी तो हुक पे टंगी हुई है. मैंने जल्दी से पैंटी उठा ली लेकिन वो ठरकी बुड्ढा कमेंट करने से बाज़ नहीं आया.

कुमार – इसको कहाँ रखोगी ? ऐसे हाथ में पकड़कर गुरुजी के पास कैसे जाओगी ?

ये तो मुझे भी मालूम था की हाथ में पकड़कर तो गुरुजी के पास जाऊँगी नहीं. फिर भी इस बुड्ढे का ऐसा बोलना ज़रूरी था. कमीना कहीं का.

कुमार – अगर बुरा ना मानो तो मैं रख लेता हूँ. मैं इसे अभी अपने कुर्ते की जेब में रख लूँगा.

मैंने सोचा था की पैंटी छुपाने के लिए और तो कोई जगह है नहीं , मैं ब्लाउज में ही रख लूँगी लेकिन उससे मुझे परेशानी होती.

“लेकिन….”

कुमार – यज्ञ के बाद तुम मुझसे ले लेना. मैं सबकी नज़र बचाकर तुम्हें वापस दे दूँगा.

मैंने ज़्यादा नहीं सोचा और उसे अपनी गीली पैंटी दे दी. गुप्ताजी ने अपने कुर्ते की जेब में पैंटी डाल ली. अब हम दोनों बाथरूम से बाहर आ गये , गुप्ताजी अपनी छड़ी और मेरे कंधे के सहारे चल रहा था.
Reply
01-17-2019, 01:58 PM,
#46
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
कुमार – यज्ञ के बाद तुम मुझसे ले लेना. मैं सबकी नज़र बचाकर तुम्हे वापस दे दूँगा.

मैने ज़्यादा नही सोचा और उसे अपनी गीली पैंटी दे दी. गुप्ता जी ने अपने कुर्ते की जेब में पैंटी डाल ली. अब हम दोनो बाथरूम से बाहर आ गये , गुप्ता जी अपनी छड़ी और मेरे कंधे के सहारे चल रहा था.

कुमार – रश्मि , एक बात कहना चाहता हूँ. तुम्हारा बदन बहुत मादक है. तुम्हारा पति बहुत ही खुसकिस्मत इंसान है.

मैं मुस्कुराइ और हम धीरे धीरे पूजा घर की तरफ बढ़ते रहे.

कुमार – शादीशुदा औरतों को तुम्हारे बदन से जलन होती होगी.

ऐसा कहते हुए उसके होठ मेरे चेहरे के बहुत नज़दीक़ आ गये और मेरे गालों से छू गये. वो मेरे ब्लाउस में झाँक रहा था. उसका दाया हाथ मेरे कंधे से खिसककर मेरी दाई चुचि पर आ गया और उसे ज़ोर से दबा दिया. खुली गॅलरी में उसकी इस हरकत से मैं कांप गयी. उसकी दाढ़ी मेरे चेहरे में गुदगुदी कर रही थी.

“प्लीज़ मत करो.”

कुमार – तुम मुस्कुरा रही हो और मुझसे मत करो भी कह रही हो.

“वो तो आपकी दाढ़ी के लिए कहा. इससे मुझे गुदगुदी हो रही है.”

अब हम गॅलरी के मोड़ पर पहुँच गये थे जहाँ से पूजा घर के लिए उपर को सीडीयाँ जाती थी. यहाँ पर एकदम से किसी की नज़र नही पड़ती थी और गुप्ता जी ने ये मौका हाथ से जाने नही दिया.

कुमार – मुझे एक मौका दो प्लीज़. मैं तुम्हारे नंगे बदन को अपनी दाढ़ी से गुदगुदाना चाहता हूँ , तुम्हारा पति ऐसा कर ही नही सकता.

वो मेरे कान में फुसफुसाया और अब उसने अपना दाया हाथ मेरे ब्लाउस के अंदर डाल दिया. मैने हल्का सा विरोध किया क्यूंकी अब हम बाथरूम में नही थे बल्कि खुली जगह में थे इसलिए मैं हिचकिचा रही थी. गुप्ता जी समझ गया कि मैं क्या सोच रही हूँ.

कुमार – रश्मि यहाँ कोई नही आएगा. तुम बस मेरी छड़ी पकड़ लो.

“नही. अब फिर से मत शुरू हो जाओ. प्लीज़….”

कुमार – अरी इस विकलांग आदमी पर कुछ तो दया करो. तुम तो परी हो परी.

अभी मुझे उसकी छेड़खानी से कोई ऐतराज नही था. सच कहूँ तो वो आदमी विकलांग था और बुड्ढ़ा लग रहा था लेकिन उसके हाथों की पकड़ मेरे पति से भी ज़्यादा मजबूत थी. ये बात सही है कि मैं उसे विकास की तरह प्यार नही कर सकती थी लेकिन उसकी दाढ़ी को छोड़ कर बाकी मुझे उससे ऐतराज नही था. मैने उसके हाथ से छड़ी ले ली और गुप्ता जी को पकड़ लिया ताकि वो गिरे ना.

गुप्ता जी इसी बात का इंतज़ार कर रहा था. मेरे छड़ी लेते ही उसने मुझे अपनी बाँहो में ज़ोर से कस लिया. मेरी जवान चुचियाँ उसकी छाती से दब गयी और मई कोई आवाज़ ना निकाल सकूँ इसलिए उसने मेरे होठों पर अपने मोटे होठ रख दिए और ज़ोर से चूमने लगा. उसकी दाढ़ी फिर से मेरे चेहरे पर चुभने लगी. मुझे मज़ा भी आ रहा था और साथ ही साथ उसकी दाढ़ी से अनकंफर्टबल भी फील हो रहा था. लेकिन गुप्ता जी ने मुझे उसकी दाढ़ी के बारे में सोचने का मौका नही दिया क्यूंकी उसने पीछे से मेरी सारी के अंदर हाथ डाल दिए और मेरे नंगे नितंबों को पकड़ लिया क्यूंकी पैंटी तो मैने उतार दी थी. मैने पेटिकोट का नाडा बहुत टाइट नही बाँधा था इसलिए उसके हाथ अंदर घुस गये.

मेरे नंगे नितंबों पर उसकी गरम और सख़्त हथेलियों के स्पर्श से मई उत्तेजित हो गयी. कुछ ही पलों में उसने अपने हाथ सारी से बाहर निकाल लिए और मेरी रसीली चुचियों पर रख दिए. और मेरे ब्लाउस के हुक खोलने की कोशिश करने लगा.

“उम्म्म्मममम….”

मैं कुछ बोल नही पाई क्यूंकी उसके मोटे होठ मेरे नरम होठों को चूस रहे थे . मैने अपना सर ना में हिलाने की कोशिश की ताकि वो रुक जाए और मेरा ब्लाउस ना खोले. लेकिन गुप्ता जी ने ठान रखी थी की वो मेरी चुचियों को नंगा करके ही रहेगा. उसने दो हुक खोल भी दिए थे और मेरी बड़ी चुचियों को ब्लाउस के उपर से ही दबा भी रहा था. अब मैने अपने हाथों से ब्लाउस पकड़ लिया और बाकी हुक खोलने से उसे रोकने लगी तभी एक आवाज़ सुनाई दी और हम दोनो ही जड़वत हो गये.

समीर – मेडम, मेडम…..

समीर हमारी खोजबीन करने आ रहा था.

“हे भगवान !!”

कुमार – रश्मि चुप रहो. मुझे नही लगता वो हमें यहाँ देख पाएगा.

हम दोनो सीडियों के पीछे चुपचाप खड़े रहे और समीर सीडियों से उतरकर गॅलरी से बाथरूम की तरफ चला गया. उत्तेजना से हम दोनो की साँसे भारी हो चली थी फिर भी हम ने शांत रहने की पूरी कोशिश की. समीर के जाते ही मैने गुप्ता जी के हाथ में छड़ी पकड़ा दी और अपनी सारी ठीक करने लगी. सारी मेरी कमर से खुल गयी थी और पेटिकोट दिख रहा था. मैने जल्दी से सारी ठीक से बाँध ली और ब्लाउस के हुक लगा लिए. फिर हम पूजा घर के लिए सीडियों में चढ़ने लगे. हमें मालूम था कि बाथरूम में हम दोनो को ना पाकर समीर लौट आएगा.

और बिल्कुल वैसा ही हुआ. हम मुस्किल से दस कदम चले होंगे कि समीर हमारे पास लौट आया. उसे बड़ा आश्चर्य हुआ कि हम ना तो गॅलरी में मिले, ना बाथरूम में, तो हम थे कहाँ ? मैं तो कुछ नही बोली , गुप्ता जी ने ही बात संभाल ली और हम पूजा घर के अंदर आ गये.

गुरुजी – अरे तुम लोगो ने इतनी देर लगा दी. मुझे तो चिंता हुई की ….

कुमार – नही गुरुजी. मैं गिरा नही लेकिन बाथरूम में मुझे थोड़ा समय लग गया.

गुरुजी – ठीक है. अब यज्ञ में ध्यान लगाओ और बचे हुए अनुष्ठान को पूरा करो.

कुमार – जी गुरुजी.

गुरुजी – हम ने अग्निदेव और लिंगा महाराज की पूजा कर ली है. अब हम काजल बेटी के लिए ध्यान करेंगे.

हम दोनो अग्निकुण्ड के सामने खड़े थे और गुरुजी हमारे सामने बैठे थे. मैने देखा समीर ने भोग तय्यार कर लिया था और अब वो भी हमारे पीछे खड़ा था.

गुरुजी – रश्मि तुम पहले के जैसे प्रणाम की मुद्रा में लेट जाओ.

मैं घुटने के बल बैठ गयी और पल्लू को अपनी कमर में खोसा ताकि जब मैं पेट के बल उल्टी लेट जाउ तो इन तीन मर्दों के सामने मेरी पीठ धकि रहे. फिर पेट के बल लेट कर मैने प्रणाम की मुद्रा में अपनी दोनो बाँहे सर के आगे कर ली. मेरे फर्श में लेटते समय समीर ने गुप्ता जी को पकड़ा हुआ था.

गुरुजी – कुमार तुम भी पहले के जैसे माध्यम के उपर लेट जाओ.

मैने फिर से अपने उपर गुप्ता जी के बदन का भार और उसका खड़ा लंड मेरे मुलायम नितंबों में महसूस किया. अब मैने पैंटी उतार दी थी तो ज़्यादा अच्छी तरह से महसूस हो रहा था. मुझे याद आया कि मेरे बेडरूम में मेरे पति लूँगी में ऐसे ही मेरे उपर लेटते थे और मैं सिर्फ़ नाइटी पहने रहती थी और अंदर से कुछ नही. मैने अपने उपर काबू रखने की कोशिश की और लिंगा महाराज के उपर ध्यान लगाने की कोशिश की पर कोई फ़ायदा नही हुआ.

गुरुजी – समीर ये कटोरा लो और कुमार के पास रख दो.

मैने देखा समीर एक छोटा सा कटोरा लेकर आया और मेरे सर के पास रख दिया. उसमे कुछ सफेद दूध जैसा था और एक चम्मच भी थी.

गुरुजी – कुमार तुम काजल बेटी के लिए पूरे ध्यान से प्रार्थना करो और उसको रश्मि के कान में बोलो. फिर एक चम्मच यज्ञ रस रश्मि को पिलाओ. ठीक है ?

कुमार – जी गुरुजी.

गुरुजी – रश्मि इस बार पहले से थोड़ा अलग करना है.

“क्या गुरुजी ?”

मैने लेटे लेटे ही गुरुजी की तरफ सर घुमाया और देखा कि उनकी आँखे पहाड़ की तरह उपर को उठे मेरे नितंबों पर हैं. जैसे ही हमारी नज़रें मिली गुरुजी ने मेरी गान्ड से अपनी नज़रें हटा ली.

गुरुजी – कुमार के रस पिलाने के बाद तुम अपने मन में लिंगा महाराज को प्रार्थना दोहराओगी और फिर पलट जाओगी. ऐसा 6 बार करना है. 3 बार उपर की तरफ और 3 बार नीचे की तरफ. ठीक है ?

गुरुजी की बात समझने में मुझे कुछ समय लगा और तभी समीर ने बेहद खुली भाषा में मुझे समझाया कि अब मुझे कितनी बेशर्मी दिखानी होगी.

समीर – मेडम , बड़ी सीधी सी बात है. गुरुजी के कहने का मतलब है कि अभी तुम उल्टी लेटी हो. गुप्ता जी को पहली प्रार्थना इसी पोज़िशन में करनी है. फिर आप सीधी लेट जाओगी जैसे कि हम बेड पर लेटते हैं. गुप्ता जी को दूसरी प्रार्थना उस पोज़िशन में करनी होगी. ऐसे ही कुल 6 बार प्रार्थना करनी होगी. बस इतना ही. ज़य लिंगा महाराज.

गुरुजी – ज़य लिंगा महाराज. रश्मि मैं जानता हूँ कि एक औरत के लिए ऐसा करना थोडा अभद्र लग सकता है , लेकिन यज्ञ के नियम तो नियम है. मैं इसे बदल नही सकता.

गुरुजी की अग्या मानने के सिवा मेरे पास कोई चारा नही था. लेकिन उस दृश्य की कल्पना करके मेरे कान लाल हो गये. दूसरी प्रार्थना के लिए मुझे सीधा लेटना होगा और गुप्ता जी मेरे उपर लेटेगा. पहले भी वो मेरे उपर लेटा था लेकिन तब कम से कम ये तो था कि मेरा मुँह फर्श की तरफ था. लेकिन अब तो ये ऐसा होगा जैसे की मैं बेड में सीधी लेटी हूँ और मेरे पति मेरे उपर लेट कर मुझे आलिंगन कर रहे हो. और उपर से दो आदमी भी मुझे इस बेशरम हरकत को करते हुए देख रहे होंगे. मेरी नज़रें झुक गयी और मैने प्रणाम की मुद्रा में हाथ आगे करते हुए सर नीचे झुका लिया.

गुरुजी – समीर तुम कुमार के पास खड़े रहो और उसे उपर नीचे उतरने में मदद करना.
Reply
01-17-2019, 02:08 PM,
#47
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
गुरुजी – समीर तुम कुमार के पास जाओ और उसे ऊपर नीचे उतरने में मदद करना.

समीर मेरे पास आकर बैठ गया. 

गुरुजी – ठीक है. कुमार अब तुम पहली प्रार्थना शुरू करो. सभी लोग ध्यान लगाओ. जय लिंगा महाराज.

गुप्ताजी ने मेरे कान में प्रार्थना कहनी शुरू की. उसका पैजामे में खड़ा लंड मुझे अपने नितंबों में चुभ रहा था. इस बार मैंने पैंटी उतार दी थी तो ज़्यादा अच्छी तरह से महसूस हो रहा था. शायद ऐसा ही गुप्ताजी को भी लग रहा होगा. धीरे धीरे वो मेरे नितंबों पर ज़्यादा दबाव डालने लगा और हल्के से धक्के लगाने लगा. मैं सोच रही थी की ये अपनी लड़की के लिए प्रार्थना कैसे कर पा रहा है.

प्रार्थना कहने के बाद अब गुप्ताजी ने कटोरे में से एक चम्मच यज्ञ रस मुझे पिलाया. मेरी पीठ में उसकी हरकतों से मेरे होंठ खुले हुए ही थे. समीर ने रस पिलाने में गुप्ताजी की मदद की. रस का स्वाद अच्छा था. उसके बाद मैंने आँखें बंद की और प्रार्थना को लिंगा महाराज का ध्यान करते हुए मन ही मन दोहरा दिया. 

समीर – मैडम, अब मैं गुप्ताजी को नीचे उतारूँगा और आप सीधी लेट जाना.

समीर मेरे ऊपर से गुप्ताजी को नीचे उतारने में मदद कर रहा था. समीर का हाथ मैंने अपने बाएं नितंब के ऊपर टेका हुआ महसूस किया, फिर गुप्ताजी के पैर मुझे अपने पैरों से हटते हुए महसूस हुए. गुप्ताजी ने सहारे के लिए मेरे कंधों को पकड़ा हुआ था. दो दो मर्दों के हाथ मेरे बदन पर थे. मेरी टाँगों के ऊपर से गुप्ताजी के विकलांग पैर को हटाने के बजाय समीर मेरी मांसल जाँघों के ऊपर हाथ रखे हुए था और साड़ी के बाहर से उन्हें महसूस कर रहा था. मेरी ऐसी हालत थी की मैं पीछे मुड़ के देख भी नहीं सकती थी . फिर गुप्ताजी मेरी पीठ से उतर गया और समीर ने मेरी जाँघों से अपने हाथ हटा लिए.

अब मेरा दिल ज़ोर ज़ोर से धड़क रहा था. मुझे सीधा लेटकर ऊपर की तरफ मुँह करना था. जब मैं पलटी तो मुझे समझ आ रहा था की इस हाल में मैं बहुत मादक दिख रही हूँ. मैंने ख्याल किया की गुप्ताजी और समीर मेरे जवान बदन को ललचाई नज़रों से देख रहे थे. मैंने नज़रें उठाई तो देखा की गुरुजी भी मुस्कुराते हुए मुझे ही देख रहे थे.

गुरुजी – कुमार अब तुम दूसरी प्रार्थना करोगे. रश्मि, माध्यम के रूप में तुम कुमार को पूरी तरह से अपने बदन के ऊपर चढ़ाओगी. विधान ये है की माध्यम को भक्त के दिल की धड़कनें सुनाई देनी चाहिए.

इन तीन मर्दों के सामने ऐसे लेटे हुए मुझे इतनी शर्मिंदगी महसूस हो रही थी की क्या बताऊँ. मैंने गुरुजी की बात में सर हिलाकर हामी भर दी. गुप्ताजी मेरे ऊपर चढ़ने को बेताब था और जैसे ही वो मेरे ऊपर चढ़ने लगा मैंने शरम से आँखें बंद कर लीं. मुझे बहुत ह्युमिलिएशन फील हो रहा था. औरत होने की स्वाभाविक शरम से मैंने अपनी छाती के ऊपर बाँहें आड़ी करके रखी हुई थीं.

समीर – मैडम, प्लीज़ अपने हाथ प्रणाम की मुद्रा में सर के आगे लंबे करो.

“वैसे करने में मुझे अनकंफर्टेबल फील हो रहा है.”

मैंने कह तो दिया लेकिन बाद में मुझे लगा की मैंने बेकार ही कहा क्यूंकी गुरुजी ने अपने शब्दों से मुझे और भी ह्युमिलियेट कर दिया.

समीर – लेकिन मैडम…….

गुरुजी – रश्मि , हम सबको मालूम है की अगर एक मर्द तुम्हारे बदन के ऊपर चढ़ेगा तो तुम अनकंफर्टेबल फील करोगी. लेकिन हर कार्य का एक उद्देश्य होता है. अगर तुम अपनी छाती के ऊपर बाँहें रखोगी तो तुम कुमार के दिल की धड़कनें कैसे महसूस करोगी ? अगर तुम्हारी छाती उसकी छाती से नहीं मिलेगी तो एक माध्यम के रूप में उसकी प्रार्थना के आवेग को कैसे महसूस करोगी ?

वो थोड़ा रुके. पूजा घर के उस कमरे में एकदम चुप्पी छा गयी थी. वो तीनो मर्द मेरी उठती गिरती चूचियों के ऊपर रखी हुई मेरी बाँहों को देख रहे थे.

गुरुजी – अगर ये तंत्र यज्ञ होता और तुम माध्यम के रूप में होती तो मैं तुम्हारे कपड़े उतरवा लेता क्यूंकी उसका यही नियम है.

उन मर्दों के सामने ये सब सुनते हुए मैं बहुत अपमानित महसूस कर रही थी और अपने को कोस रही थी की मैंने चुपचाप हाथ आगे को क्यूँ नहीं कर दिए. ये सब तो नहीं सुनना पड़ता. अब और ज़्यादा समय बर्बाद ना करते हुए मैंने अपने हाथ सर के आगे प्रणाम की मुद्रा में कर दिए. अब बाँहें ऐसे लंबी करने से मेरा ब्लाउज थोड़ा ऊपर को खींच गया और चूचियाँ ऊपर को उठकर तन गयीं , और भी ज्यादा आकर्षक लगने लगीं.

जल्दी ही गुप्ताजी मेरे ऊपर चढ़ गया और मैंने शरम से अपने जबड़े भींच लिए. मेरे बेडरूम में जब मैं ऐसे लेटी रहती थी और मेरे पति मेरे ऊपर चढ़ते थे तो पहले वो मेरी गर्दन को चूमते थे , फिर कंधे पर और फिर मेरे होठों का चुंबन लेते थे. उनका एक हाथ मेरी नाइटी या ब्लाउज के ऊपर से मेरी चूचियों पर रहता था और मेरे निपल्स को मरोड़ता था. उसके बाद वो मेरी नाइटी या पेटीकोट जो भी मैंने पहना हो , उसको ऊपर करके मेरी गोरी टाँगों और जाँघों को नंगी कर देते थे , चाहे उनका मन संभोग करने का नहीं हो और सिर्फ़ थोड़ा बहुत प्यार करने का हो तब भी. अभी गुप्ताजी के मेरे ऊपर चढ़ने से मुझे अपने पति के साथ बिताए ऐसे ही लम्हों की याद आ गयी.

मेरी बाँहें सर के पीछे लंबी थीं इसलिए गुप्ताजी के लिए कोई रोक टोक नहीं थी और उसने मेरे बदन के ऊपर अपने को एडजस्ट करते समय मेरी दायीं चूची को अपनी कोहनी से दो बार दबा दिया और यहाँ तक की अपनी टाँग एडजस्ट करने के बहाने साड़ी के ऊपर से मेरी चूत को भी छू दिया. उसने अपने को मेरे ऊपर ऐसे एडजस्ट कर लिया जैसे चुदाई का परफेक्ट पोज़ हो . कमरे में दो मर्द और भी थे जो हम दोनों को देख रहे थे और मैं उनकी आँखों के सामने ऐसे लेटी हुई बहुत अपमानित महसूस कर रही थी. 

अब गुप्ताजी ने मेरे कान में प्रार्थना कहनी शुरू की और इसी बहाने मेरे कान को चूम और चाट लिया. वैसे तो मैंने शरम से अपनी आँखें बंद कर रखी थी लेकिन मैं समझ रही थी की समीर जो मेरे इतना पास बैठा हुआ था उसने इस बुड्ढे की हरकतें ज़रूर देख ली होंगी.

अब गुप्ताजी ने मुझे चम्मच से यज्ञ रस पिलाया और पिलाते समय उसने अपना दायां हाथ मेरी बायीं चूची के ऊपर टिकाया हुआ था और वो अपनी बाँह से मेरे निप्पल को दबा रहा था. समीर ने फिर से रस पिलाने में उसकी मदद की और फिर मैंने लिंगा महाराज को उसकी प्रार्थना दोहरा दी. मैं ही जानती थी की मैंने लिंगा महाराज से क्या कहा क्यूंकी प्रार्थना के नाम पर वो बुड्ढा मेरे बदन से जो छेड़छाड़ कर रहा था उससे मैं फिर से कामोत्तेजित होने लगी थी.

ऐसे करके कुल 6 बार प्रार्थना हुई और हर बार मुझे ऊपर नीचे को पलटना पड़ा और गुप्ताजी आगे से और पीछे से मेरे ऊपर चढ़ते रहा. अंत में ना सिर्फ़ मैं पसीने से लथपथ हो गयी बल्कि मुझे बहुत तेज ओर्गास्म भी आ गया. बाद बाद में तो गुप्ताजी कुछ ज़्यादा ही कस के आलिंगन करने लगा था और एक बार तो उसने मेरे नरम होठों से अपने मोटे होंठ भी रगड़ दिए और चुंबन लेने की कोशिश की. लेकिन मैंने अपना चेहरा हटाकर उसे चुंबन नहीं लेने दिया. वो मेरे ऊपर धक्के भी लगाने लगा था और मेरे पूरे बदन को उसने अच्छी तरह से फील कर लिया. और मेरे बदन पर गुप्ताजी को चढ़ाते उतारते समय समीर ने मेरे निचले बदन पर जी भरके हाथ फिरा लिए. गुप्ताजी की मदद के बहाने उसने कम से कम दो या तीन बार मेरे नितंबों को पकड़ा और मेरी जाँघों पर तो ना जाने कितनी बार अपना हाथ फिराया.

मैंने पैंटी नहीं पहनी थी तो तेज ओर्गास्म आने के बाद मेरी चूत का रस मेरी जांघों के अंदरूनी हिस्से में बहने लगा और मेरा पेटीकोट गीला हो गया. उस समय मैं सोच रही थी की पैंटी उतारकर ग़लती की. प्रार्थना पूरी होने के बाद गुरुजी और समीर ने जय लिंगा महाराज का जाप किया और आख़िरकार गुप्ताजी मेरे बदन से उतर गया. 

समीर – गुरुजी कमरा बहुत गरम हो गया है. हम सब को पसीना आ रहा है. थोड़ा विराम कर लेते हैं गुरुजी.

गुरुजी – हाँ थोड़ा विराम ले सकते हैं लेकिन मध्यरात्रि तक ही शुभ समय है तब तक यज्ञ पूरा हो जाना चाहिए.

तब तक मैं फर्श से उठ के बैठ गयी थी और मुझे पता चला की मेरा बायां निप्पल ब्रा कप से बाहर आ गया है जो की गुप्ताजी के मेरी छाती को लगातार दबाने से हुआ था तो मुझे ब्रा एडजस्ट करनी थी. लेकिन इन मर्दों के सामने मैं अपनी ब्रा एडजस्ट नहीं कर सकती थी इसलिए बाथरूम जाने की सोच रही थी. पर अभी तो मेरा और भी ह्युमिलिएशन होना था , रही सही कसर भी पूरी हो गयी. 

समीर – ठीक है गुरुजी. गुप्ताजी एक बार अपना रुमाल दे सकते हैं ? मुझे बहुत पसीना आ रहा है.

गुप्ताजी उलझन में पड़ गया. मैं तुरंत समझ गयी की समीर जिसे गुप्ताजी का रुमाल समझ रहा है वो तो मेरी पैंटी है जो की उसके कुर्ते की जेब में मुड़ी तुड़ी रखी थी.

अब मैं बहुत नर्वस हो गयी और समझ में नहीं आ रहा था की क्या करूँ ? यही हालत गुप्ताजी की भी थी.

कुमार – ये तो ….मेरा मतलब …ये मेरा रुमाल नहीं है.

समीर – तो किसी और का है क्या ?

कुमार – नहीं नहीं. मेरा मतलब ये रुमाल नहीं है.

समीर – ओह…..पर लग तो रुमाल जैसा ही रहा है. तो फिर ये क्या है ?

अब गुप्ताजी मेरा मुँह देखने लगा और मैं तो वहीं पर जम गयी. 

समीर – कुछ परेशानी है क्या ? मैंने कुछ ग़लत पूछ लिया क्या?

अब गुप्ताजी को कुछ तो जवाब देना ही था.

कुमार – ना ना ऐसी कोई बात नहीं. मेरा मतलब ….

वो थोड़ा रुका, मेरी तरफ देखा और फिर बता ही दिया.

कुमार – असल में जब हम बाथरूम में गये , मेरा मतलब जब रश्मि बाथरूम गयी तो उसे कुछ असुविधा हो रही थी इसलिए उसने अपनी पैंटी उतार दी. और उसके पास इसे रखने के लिए जगह नहीं थी तो मैंने अपनी जेब में रख ली.

ऐसा कहते हुए गुप्ताजी ने अपनी जेब से मेरी पैंटी निकाली और फैलाकर समीर को दिखाई. उन मर्दों के सामने मैं शरम से मर ही गयी और मैंने अपनी नज़रें नीची कर ली. वो तीनो मर्द गौर से मेरी छोटी सी पैंटी को देख रहे थे. इतना ह्युमिलिएशन क्या कम था जो अब समीर ने एक फालतू बात कहना ज़रूरी समझा.

समीर – ओह. मैडम तब तो आप बिना पैंटी के हो अभी ?

मैंने उसके सवाल का जवाब नहीं दिया और वहाँ से जाने में ही भलाई समझी.

“गुरुजी, एक बार बाथरूम जाना चाहती हूँ.”

गुरुजी – ज़रूर जाओ रश्मि. लेकिन 5 मिनट में आ जाना. अब अनुष्ठान में नंदिनी की बारी है.

मैं फर्श से उठ खड़ी हुई और गुप्ताजी के हाथ से , सबके देखने के लिए प्रदर्शित , अपनी पैंटी छीन ली और कमरे से बाहर निकल गयी. मैंने समीर और गुप्ताजी के धीरे से हंसने की आवाज़ सुनी और बहुत अपमानित महसूस किया. मैंने खुद को बहुत कोसा की मैंने क्यूँ इस बुड्ढे को अपनी पैंटी रखने को दी. मैं बाथरूम गयी और मुँह धोया. फिर अपनी साड़ी और पेटीकोट उठाकर चूत और जांघों को भी धो लिया , जो मेरे चूतरस से चिपचिपी हो रखी थी. और फिर अपनी पैंटी पहन ली जो की थोड़ी गीली हो रखी थी. फिर मैंने अपने कपड़े ठीकठाक किए और थोड़ा शालीन दिखने की कोशिश की.

जब मैं वापस आई तो गुप्ताजी पूजा घर से चला गया था और उसकी पत्नी नंदिनी वहाँ आ गयी थी.
Reply
01-17-2019, 02:08 PM,
#48
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
जब मैं वापस आई तो गुप्ताजी पूजा घर से चला गया था और उसकी पत्नी नंदिनी वहाँ आ गयी थी.

नंदिनी को देखकर मैं मुस्कुरायी और वो भी मुस्कुरा दी. मैं सोचने लगी की तुम क्या जानो तुम्हारा पति मेरे साथ इतनी देर से क्या कर रहा था. नंदिनी सफेद साड़ी ब्लाउज में थी. समीर और नंदिनी अग्निकुण्ड के सामने साथ बैठे हुए थे . अग्निकुण्ड के दूसरी तरफ गुरुजी बैठे हुए थे.

गुरुजी – नंदिनी, अभी तक कुमार ने काजल बेटी के लिए प्रार्थना की है. इस यज्ञ में माध्यम की ज़रूरत पड़ती है जो तुम्हारी प्रार्थना को अग्निदेव और लिंगा महाराज तक पहुँचाएगा. तुम्हारे लिए समीर माध्यम का काम करेगा.

नंदिनी – ठीक है गुरुजी.

गुरुजी – रश्मि , अगर तुम चाहो तो थोड़ी देर आराम कर सकती हो क्यूंकी अभी यज्ञ में तुम्हारी ज़रूरत नहीं है.

मैंने सोचा ठीक है थोड़ी देर ड्राइंग रूम में बैठ जाती हूँ. लेकिन मुझे ध्यान आया की वहाँ तो गुप्ताजी भी होगा और उसकी बीवी तो यहाँ बैठी है तो वो मुझे ज़रूर परेशान करेगा. लेकिन पूजा घर में धुएँ और गर्मी से मेरा मन वहाँ बैठने का भी नहीं हो रहा था ख़ासकर की जब यज्ञ में मेरी ज़रूरत भी नहीं थी.

नंदिनी – तुम अगर चाहो तो मेरी बेटी के साथ थोड़ा समय बिता सकती हो. वो भी बोर हो रही होगी.

ये मुझे ठीक लगा क्यूंकी बेटी के साथ रहूंगी तो गुप्ताजी भी मुझे परेशान नहीं कर पाएगा.

“ठीक है. कहाँ है वो ?”

नंदिनी – तुम सीढ़ियों से नीचे उतरकर गैलरी में सीधे ड्राइंग रूम में जाने की बजाय बायीं तरफ वाले कमरे में जाना. काजल अपने कमरे में होगी.

“ठीक है. गुरुजी तो मैं….”

गुरुजी – ज़रूर रश्मि. तुम काजल बेटी के साथ बातें करो तब तक मैं नंदिनी की पूजा करवाता हूँ.

मैंने सर हिलाकर हामी भरी और पूजा घर से बाहर आ गयी. मुझे बहुत उत्सुकता हो रही थी की गुरुजी और समीर के सामने नंदिनी कैसे पूजा करेगी ? माध्यम अब समीर होगा तो नंदिनी को क्या करना होगा ? ना जाने क्यूँ पर मुझे फिर से इस तरह की फालतू उत्सुकता हो रही थी . लेकिन जो भी हो अब तो मैं पूजा घर से बाहर आ चुकी थी तो नंदिनी को देख नहीं सकती थी. लेकिन मन कर रहा था की पूजा घर में चुपचाप कहीं से झाँककर देखूं. मैं चलते जा रही थी पर मन पूजा घर में ही अटका हुआ था फिर सीढ़ियां उतरकर मैं गैलरी में आ गयी. मैं बायीं तरफ काजल के कमरे की ओर जाने लगी तभी एक आदमी दिखा जो शायद इनका नौकर था.

“काजल का कमरा कौन सा है ?”

नौकर ने कमरे के दरवाज़े की तरफ इशारा किया . 

“धन्यवाद.”

फिर नौकर चला गया और मैंने कमरे का दरवाज़ा खटखटाया. लेकिन कोई जवाब नहीं आया तो मैंने दुबारा खटखटा दिया. 

काजल – कौन है ?

अंदर से चिड़चिड़ी आवाज़ में उसने पूछा. साफ जाहिर था की दरवाज़ा खटखटाना उसे पसंद नहीं आया था. मैं सोचने लगी की क्या जवाब दूँ क्यूंकी मेरे नाम से तो वो मुझे पहचानेगी नहीं. तभी उसने थोड़ा सा दरवाज़ा खोला और पर्दे से चेहरा बाहर निकालकर झाँका.

काजल – ओह…..आंटी आप हो . मैंने सोचा…..

उसने अपनी बात पूरी नहीं की और मेरे लिए दरवाज़ा खोल दिया.

“तुम्हारी मम्मी अभी यज्ञ में बिज़ी हैं इसलिए मैंने सोचा तुम्हारे साथ थोड़ा समय बिता लूँ.”

काजल मुस्कुरायी और मेरे अंदर आने के बाद उसने दरवाज़ा बंद कर दिया. उसका कमरा काफ़ी बड़ा था और उसमें फर्नीचर भी बढ़िया लगा हुआ था, टीवी, इलेक्ट्रॉनिक गैजेट्स वगैरह भी थे. कमरे में चारों तरफ देखने के बाद मैंने काजल की तरफ ध्यान दिया तो मुझे हैरानी हुई की उसने अपने सफेद सूट का सलवार नहीं पहना हुआ था और वो सिर्फ़ सफेद कुर्ते में थी. कुर्ता उसके घुटनों तक लंबा था इसलिए पहले मेरी नज़र नहीं पड़ी थी . मैं सोचने लगी की ये ऐसे क्यूँ खड़ी है, थोड़ी देर पहले तो सफेद सूट में थी.

काजल – आंटी, आप गुरुजी के साथ कब से हो ?

“बस कुछ ही दिनों से.”

बोलते समय काजल कुछ असहज दिख रही थी और गहरी साँसें ले रही थी. गहरी साँसें लेने से उसके टाइट कुर्ते में चूचियाँ ऊपर नीचे हिल रही थीं.

“तुम्हारी पढ़ाई में क्या दिक्कत आ रही है ?”

मैंने सोफे में बैठते हुए पूछा. काजल अभी भी खड़ी थी और कुछ हिचकिचा रही थी. मैंने प्रश्नवाचक निगाहों से उसे देखा.

काजल – आंटी, आप बैठो. मैं बाथरूम होकर आती हूँ. असल में मैं बाथरूम ही जा रही थी और इसीलिए सलवार भी उतार दी थी.

“ओह….. अच्छा. ठीक है. तुम जाओ. मेरे लिए टीवी ऑन कर दो.”

तभी मैंने देखा की टीवी के नीचे रखा हुआ वीडियो प्लेयर ऑन है.

“तुम कोई मूवी देख रही थी क्या ?”

मेरे सवाल से काजल के चेहरे का रंग उड़ गया. वो कुछ परेशान सी दिख रही थी.

“आपको कैसे पता चला की मैं….”

“वो वीडियो प्लेयर ऑन है ना, इसलिए मैंने पूछ लिया.”

काजल – ओह..…

उसने ऐसी आवाज़ में कहा जैसे की उससे कोई भूल हो गयी हो. मैंने देखा की टीवी तो ऑफ है . अब मैं समझ गयी थी की काजल कोई मूवी देख रही थी और मेरे दरवाज़ा खटखटाने से उसे डिस्टर्ब हुआ होगा तभी वो थोड़ा इरिटेट हो गयी थी. और जब उसने मेरे लिए दरवाज़ा खोला तो टीवी ऑफ कर दिया पर वीडियो प्लेयर ऑफ करना भूल गयी थी. काजल की हालत ऐसी हो रखी थी जैसे उसकी कोई चोरी पकड़ी गयी हो . अब उसने बात टालने की कोशिश की.

काजल – हाँ आंटी , लेकिन वो बड़ी बोरिंग मूवी थी. मैं आपके लिए टीवी ऑन कर देती हूँ.

अब तो मुझे बड़ी उत्सुकता होने लगी थी की काजल कौन सी मूवी देख रही थी जो मुझसे छुपा रही है. कह तो रही थी की मैं बाथरूम जा रही थी इसलिए सलवार उतार दी है लेकिन मुझे उसकी बात पर भरोसा नहीं हो रहा था. वो टीवी ऑन करने गयी तो मैंने उसके कुर्ते के कट में से देखा की उसने गुलाबी पैंटी पहनी हुई थी. वैसे तो मैं जो सलवार कमीज़ पहनती थी उनमें जो साइड्स में कट होता था वो कमर से थोड़ा नीचे तक होता था . लेकिन काजल के कुर्ते का कट उसकी कमर से भी ऊपर था और साइड्स से उसकी पैंटी का काफ़ी हिस्सा दिख रहा था. मैंने मन ही मन उसके आकर्षक बदन की तारीफ की.

“क्या नाम है मूवी का ?”

काजल – आंटी , ये एक डब्ड मूवी है. बहुत स्लो है, आपको पसंद नहीं आएगी.

मैं सब समझ रही थी की काजल पूरी कोशिश कर रही है की मैं वो मूवी ना देखूँ. लेकिन अब तो मुझे देखनी ही थी की आख़िर उसमें ऐसा क्या है.

“काजल, टाइमपास ही तो करना है. 10 – 15 मिनट में तो गुरुजी तुम्हें बुला लेंगे. तब तक जो तुम देख रही थी उसी को देख लेते हैं.”

मैंने काजल के लिए कोई चारा नहीं छोड़ा और उसने अनमने मन से टीवी ऑन कर दिया. फिर वो जल्दी से अपना सफेद सलवार लेकर अटैच्ड बाथरूम में भाग गयी. मैंने टीवी स्क्रीन पर ध्यान लगाया और कुछ झिलमिलाहट के बाद मूवी जहाँ पर रुकी थी वहीं से स्टार्ट हो गयी.

“ओह्ह ….”

पहले ही सीन में जबरदस्त चुम्मा चाटी चल रही थी. हीरो ने हीरोइन को अपने आलिंगन में पकड़ा हुआ था और उसके होठों को चूस रहा था. हीरोइन भी उसकी पीठ पर हाथ फिरा रही थी और उसके बाल खींच रही थी. वो दोनों एक कमरे में खड़े थे. वो हॉट सीन था, हीरोइन ने थोड़े से कपड़े पहने हुए थे और हीरो उसको हर जगह छू रहा था. कैमरा हीरोइन की पीठ दिखा रहा था और फिर साइड पोज़ से दिखा रहा था. कभी चुंबन का क्लोज़ अप दिखा रहा था. हीरोइन ने चोली पहन रखी थी जो उसकी बड़ी चूचियों को सम्हाल नहीं पा रही थी और छोटी सी स्कर्ट में उसके बड़े नितंब दिख रहे थे. हीरोइन ने ब्रा भी नहीं पहनी हुई थी और उन छोटे कपड़ो में बहुत सेक्सी लग रही थी. वो बहुत लंबा चुंबन दृश्य था और वो दोनों एक दूसरे के बदन में हर जगह हाथ फिरा रहे थे . कैमरा हीरोइन के बदन पर फोकस कर रहा था. और हीरो वो सब कुछ कर रहा था जो थोड़ी देर पहले बाथरूम में गुप्ताजी मेरे साथ कर रहा था.

अब मैं समझ गयी थी की क्यूँ काजल की साँसें उखड़ी हुई थीं और उसने सलवार क्यूँ उतार दी थी. शायद वो चूत में उंगली कर रही थी जब मैंने दरवाज़ा खटखटा दिया. वो एक डब्ड साउथ इंडियन बी -ग्रेड मूवी थी. और उसमें एक से एक हॉट सीन आ रहे थे. फिर हीरोइन ने अपनी चोली भी उतार दी और टॉपलेस हो गयी. अपनेआप मेरे हाथ मेरी चूचियों पर चले गये और ब्लाउज के बाहर से मेरे निप्पल को छुआ. मेरे कान गरम हो गये और मेरी साँसें भी काजल की तरह भारी हो गयीं. मैं काजल से 10 साल बड़ी थी लेकिन दोनों पर मूवी का असर एक जैसा था.

मैंने ऐसी फिल्म कम ही देखी थी. शादी के शुरुवाती दिनों में राजेश ने मुझे कुछ पॉर्न फिल्म्स दिखाई थीं लेकिन वो सब इंग्लिश थीं. उन सभी में सब कुछ सीधे सीधे शुरू हो जाता था, फिल्म शुरू होते ही लड़की तुरंत कपड़े उतार देती थी, मर्द भी नंगा हो जाता था और सीधे चुदाई शुरू. लेकिन ऐसे देसी मसाला वीडियो मैंने कम ही देखे थे. उन अँग्रेज़ी पॉर्न फिल्म्स की बजाय ऐसी देसी फिल्म को देखकर मुझे ज़्यादा मज़ा आ रहा था जिसमें सीधे चुदाई की बजाय चूमना चाटना और एक दूसरे के बदन पर हाथ फिराना ये सब हो रहा था. 

अब हीरोइन ने सिर्फ़ एक काली पैंटी पहनी हुई थी और वो बेशर्मी से अपनी बड़ी चूचियों का प्रदर्शन कर रही थी. हीरो भी अब सिर्फ़ एक चड्डी में था और उसका खड़ा लंड देखकर मुझे बेचैनी होने लगी. तभी उस कमरे का दरवाज़ा खुला और एक और लड़की आ गयी जो हीरोइन की बहन थी और दोनों लड़कियां हीरो को प्यार करती थीं. हीरो ने दरवाज़ा बंद कर दिया और बिना देर किए उस लड़की के कपड़े भी उतार दिए. अब हीरो को आगे से नयी लड़की ने आलिंगन किया हुआ था जो सिर्फ़ ब्रा पैंटी में थी और पीछे से हीरोइन ने जो सिर्फ़ पैंटी में थी. दोनों लड़कियाँ हीरो के बदन से अपनी बड़ी चूचियों को दबा रही थी.

“ओह्ह ….हे भगवान !...”

ऐसा हॉट सीन चल रहा था तभी बाथरूम का दरवाज़ा खुला और काजल कमरे में आ गयी. मैंने देखा उसकी नज़रें भी टीवी स्क्रीन पे जम गयीं. ऐसा गरम सीन देखकर किसी भी जवान लड़की या औरत के निप्पल खड़े हो जाएँगे. लेकिन मैं इस लड़की के साथ ऐसी नंगी फिल्म नहीं देख सकती थी , वैसे सच कहूँ तो मेरा उस मूवी को देखते रहने का मन हो रहा था.

“ये क्या है ? ऐसी मूवी देखती हो तुम ?”

काजल तुरंत माफी माँगने लगी.

काजल – आंटी मेरा विश्वास करो , मुझे नहीं मालूम था ये ऐसी फिल्म है. मेरे भाई ने लाकर दी और अकेले में देखना बोला. आंटी प्लीज़ , मम्मी पापा को मत बताना.

“भाई ?”

काजल – वो मेरे ताऊजी का लड़का है. कॉलेज में पढ़ता है.

काजल बहुत नर्वस हो गयी थी और उसने मेरे पास आकर मेरे हाथ पकड़ लिए.

“तुम्हारे मम्मी पापा तुम्हारी पढ़ाई को लेकर इतना परेशान हैं और तुम इन गंदी चीज़ों में वक़्त बर्बाद कर रही हो.”

मैं उसके साथ सख्ती से पेश आई तो वो मेरे गले लग कर रोने लगी. वो मेरे ऊपर झुकी हुई थी और उसकी टाइट चूचियाँ मेरे हाथों को छू रही थीं उनको देखकर मुझे अपने स्कूल के दिनों की याद आ गयी. मैं भी 12वीं में आकर्षक लगती थी लेकिन काजल ज़्यादा सुंदर लग रही थी.

“काजल , मासूम बनने की कोशिश मत करो. तुम कोई छोटी बच्ची नहीं हो.”
Reply
01-17-2019, 02:08 PM,
#49
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
“काजल , मासूम बनने की कोशिश मत करो. तुम कोई छोटी बच्ची नहीं हो.”

मैंने उसे अपने बदन से हटाने की कोशिश की. वो अभी भी मेरे ऊपर झुकी हुई थी और अपनी आँखें पोंछ रही थी. सुबकने से उसकी साँसें भारी हो गयीं और उसके टाइट कुर्ते से जवान चूचियाँ बाहर को उभर आयीं. पता नहीं मेरे दिमाग़ में क्या आया की मैंने एक सख़्त टीचर की तरह व्यवहार करना शुरू कर दिया जिसने अपने किसी स्टूडेंट को ग़लती करते हुए पकड़ लिया हो. क्या मुझे उसके आकर्षक बदन से ईर्ष्या हुई या इस बात से की उसका चेहरा मुझसे ज़्यादा सुंदर है या फिर अभी वो मेरे सामने विनती करने की हालत में थी ? मुझे नहीं मालूम क्यूँ पर मैंने उसके साथ सख्ती से व्यव्हार किया.

“बस बहुत हो गया. अब सीधी खड़ी रहो.”

काजल के बाथरूम से बाहर आने के बाद मैंने मूवी को पॉज़ कर दिया था. अब काजल सीधी खड़ी हो गयी और नज़रें झुका लीं.

“काजल, मुझे सच बताओ और मैं तुम्हारी मम्मी को कुछ नहीं बताऊँगी. मैंने थोड़ी सी मूवी देखी लेकिन तुमने तो पूरी देखी होगी ना ?”

काजल ने नजरें नीचे किए हुए ही सर हाँ में हिला दिया.

“तो फिर मुझे इसकी पूरी स्टोरी बताओ.”

काजल - आंटी ये तो …. मेरा मतलब इसमें तो ज़्यादातर ….

वो हकलाने लगी.

“जो भी स्टोरी है मुझे बताओ.”

काजल – ठीक है आंटी. लेकिन प्लीज़ गुस्सा मत होना. मैं बताती हूँ. एक लड़की अपने परिवार के साथ समुंदर किनारे घूमने आती है. उसकी दो बहनें भी साथ में होती हैं. यहाँ एक दूसरे ग्रुप से उनकी मुलाकात होती है. तीनो बहनों का तीन लड़कों से अफेयर चलता है. और उनके पेरेंट्स का भी दूसरों से अफेयर चलता है. आंटी स्टोरी में कुछ नहीं है बस यही है.

काजल ने पूरी स्टोरी सर झुकाकर ही सुना दी और इस प्यारी लड़की को मेरे आगे दबते देखकर मुझे मज़ा आ रहा था. अभी वो पूरी तरह से मेरे काबू में थी.

“कौन सा पार्ट तुम्हें सबसे अच्छा लगा, काजल ?”

काजल – आंटी , मैंने आपको बताया ना की ये बहुत बोरिंग मूवी है. सारे उस टाइप के सीन भरे पड़े हैं इसमें. मुझे बिल्कुल भी अच्छी नहीं लगी.

“तो फिर तुमने अपनी सलवार क्यूँ उतार दी थी ?”

काजल – आंटी वो …. मैंने बताया तो था की मैं बाथरूम जा रही थी….

“तो क्या मैं ये समझूँ की तुम जब भी बाथरूम जाती हो , कमरे में सलवार उतार कर जाती हो ?”

वो सर झुकाए चुपचाप खड़ी रही.

“मुझे सच बताओ.”

काजल – आंटी असल में वो हॉट सीन्स देखकर मुझे बेचैनी होने लगी थी इसलिए ….

“कितनी बार देखी है ये मूवी ?”

काजल – सिर्फ़ दूसरी बार देख रही थी आंटी, कसम से.

“पहली बार कब देखी थी ?”

वो अपने होंठ काटने लगी और चुपचाप खड़ी रही. इस सेक्सी लड़की से सवाल जवाब करने में मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था.

काजल – आंटी प्लीज़ मम्मी को मत बताना. वो तो मुझे मार ही डालेंगी.

“मैं नहीं बताऊँगी पर तुम जवाब तो दो.”

काजल – कल शाम मम्मी शॉपिंग के लिए गयी थी और पापा अपने कमरे में थे तब देखी थी.

“कल भी तुम्हें वैसी ही फीलिंग्स आयी , जैसी आज आयी थी ?”

काजल – हाँ आंटी.

“कल भी सलवार खोली थी ?”

मैं जानती थी की ये कुछ ज़्यादा ही हो रहा है और बहुत से प्राइवेट सवाल पूछ रही हूँ लेकिन उसके साथ मज़ा आ रहा था. मेरे इस सवाल से उसका चेहरा लाल हो गया और उसके हाथ अपनेआप नीचे जाकर चूत के आगे क्रॉस पोज़िशन में आ गये जैसे की उसे ढक रही हो. काजल ने ना में सर हिला दिया.

“काजल सच बताओ.”

काजल – आंटी मैं सच बता रही हूँ. कल मैंने स्कर्ट पहनी हुई थी तो…

“अच्छा. ऐसा कहो ना .”

मैं समझ रही थी की जरूर इसने अपनी स्कर्ट उठा कर अंगुली की होगी.

“काजल, एक काम करो. ये रिमोट लो और जो सीन तुम्हें सबसे ज़्यादा पसंद आया , उसको लगाओ.”

मैंने उसको रिमोट दे दिया लेकिन वो हिचकिचा रही थी और कुछ सोच रही थी.

“क्या हुआ ?”

काजल – आंटी , मूवी में सिर्फ़ उस टाइप के सीन्स हैं.

“लेकिन उन्हें देखकर तुम्हें मज़ा आया , है की नहीं ? मैं देखना चाहती हूँ कौन सा पार्ट तुम्हें सबसे ज़्यादा पसंद आया. घबराओ मत. मैं कुछ नहीं कहूँगी. बस वो सीन लगा दो.”

काजल हिचकिचा रही थी लेकिन मेरी बात टालने का साहस उसमें नहीं था. उसने रिमोट से फास्ट फॉरवर्ड करना शुरू कर दिया और एक जगह पर रोक कर प्ले कर दिया. हम दोनों का ध्यान टीवी स्क्रीन पर था. अब वो सीन शुरू हुआ. एक लड़की एक लड़के के साथ समुंदर किनारे टहल रही थी. दोनों टीनएजर्स थे. ये लड़की वो वाली नहीं थी जो मैंने देखी थी , मैंने अंदाज़ा लगाया ये तीसरी बहन होगी. चलते चलते उसकी मिनीस्कर्ट बार बार हवा से ऊपर उठ जा रही थी तो उसे अनकंफर्टेबल फील हो रहा था. वो बार बार अपनी स्कर्ट नीचे कर रही थी तभी लड़के ने रेत में बैठने के लिए कहा. लड़की मान गयी पर जैसे ही बैठने लगी तेज हवा से उसकी स्कर्ट ऊपर उठ गयी और पैंटी से ढकी हुई उसकी गांड स्क्रीन में दिख गयी.

मैंने आँखों के कोनों से काजल को देखा , उसकी साँसें भारी हो चली थीं. लड़की अभी ठीक से बैठी भी नहीं थी की लड़का उसके ऊपर चढ़ गया और उसके कपड़े ऊपर करने लगा. वो सीन बड़ा अजीब लग रहा था लेकिन मैं समझ रही थी की दर्शकों को उत्तेजित करने के लिए रखा होगा क्यूंकी बार बार वो लड़का लड़की की स्कर्ट को कमर तक उठा दे रहा था और लड़की की सफेद पैंटी दिख जा रही थी. और वो लड़की अपनी स्कर्ट को नीचे करने की कोशिश कर रही थी. थोड़ी देर बाद लड़के ने उसका टॉप ऊपर कर दिया और अब वो सिर्फ़ सफेद ब्रा में थी . वैसे तो वो टीनएजर थी लेकिन उसकी चूचियाँ बड़ी थीं और लड़के ने उनको खूब दबाया और सहलाया. लड़का अब लड़की का चुंबन ले रहा था और ब्रा के बाहर से उसकी बड़ी चूचियों को दबा रहा था.

मैंने देखा काजल भी सीन में मगन थी. हमारी उमर में बहुत अंतर था और मैं तो शादीशुदा थी लेकिन काजल कुँवारी थी पर दोनों को नशा चढ़ रहा था. मेरे अंदर तो गुप्ताजी की हरकतों से गर्मी चढ़ी हुई ही थी और अब इस मूवी को देखकर मेरी चूचियाँ टाइट हो गयी थीं.

सीन चलते रहा और काजल बड़ी बड़ी आँखों से टीवी स्क्रीन को ही देख रही थी. और क्यूँ ना देखे ? अगर मुझे भी अपने बचपन के दिनों में ऐसी हॉट मूवी देखने का मौका मिला होता तो मुझे भी ऐसा ही रोमांच होता. अब लड़के ने अपनी जीन्स और टीशर्ट उतार दी थी और चड्डी में था और लड़की भी सिर्फ़ ब्रा पैंटी में थी. लड़का दोनों हाथों से उसकी चूचियाँ दबाते हुए चोदने के अंदाज़ में धक्के लगा रहा था. लड़की हर तरह की कामुक आवाज़ें निकाल रही थी और कैमरा उसके चेहरे, चूचियों और उन दोनों की चिपकी हुई कमर पर फोकस कर रहा था.

“थोड़ी साउंड कम करो.”

काजल ने तुरंत साउंड कम कर दी और वो इस हॉट सीन को देखने में इतनी मगन थी की उसने मेरी तरफ देखा भी नहीं. कुछ ही देर में लड़की सब कपड़े उतारकर नंगी हो गयी और लड़के ने भी अपनी चड्डी उतार फेंकी और नंगा हो गया. लड़के का लंड देखकर मैं फिर से कामोत्तेजित हो गयी और वो लड़का खुले बीच में लड़की को चोदने के लिए उसके ऊपर चढ़ गया. मैं सोचने लगी की ये शूटिंग कहाँ हुई होगी. बीच खाली था लेकिन मुझे हैरानी हो रही थी की हमारे देसी अभिनेता और अभिनेत्रियां भी इतने बोल्ड हो गये हैं की पूरे नंगे होकर खुले बीच में चुदाई कर रहे हैं. कैमरा लड़की की चूत को क्लोज़ अप में दिखा रहा था पर मेरा मन लड़के का लंड देखने का हो रहा था और उसे बहुत कम दिखाया गया था. अजीब बात ये हुई की वो चुदाई का सीन ज़्यादा लंबा नहीं दिखाया और अचानक से अगला सीन आ गया जिसमें दो लड़कियाँ बेड में बैठकर बातें कर रही थी. 

काजल – आंटी सीन खत्म हो गया.

“वो तो मुझे भी दिख रहा है.”

मुझे थोड़ी निराशा हुई की चुदाई सीन जल्दी ही खत्म कर दिया लेकिन अभी और भी हॉट सीन्स आने वाले थे. दोनों लड़कियों का जल्दी ही लेस्बियन सीन शुरू हो गया और पहली बार मैंने कोई लेस्बियन सीन देखा वो भी देसी लड़कियों का. दोनों लड़कियों ने सेक्सी बदन दिखाऊ नाइटी पहन रखी थी. बातें करते करते वो नज़दीक़ आयीं और एक दूसरे को चूमने लगीं . दोनों एक दूसरे की चूचियाँ भी दबा रही थीं. वो चुंबन दृश्य लंबा चला और लड़कियाँ एक दूसरे के होठों को चाट और चूस रही थीं , अब मेरी पैंटी गीली होने लगी थी.एक लड़की किसी दूसरी लड़की को चूम रही है , ऐसा सीन मैंने पहले कभी नहीं देखा था. अब मेरा दिल जोरों से धड़कने लगा था और पहले चुदाई सीन फिर ये लेस्बियन देखकर मेरे हाथ अपनेआप ही मेरी चूचियों पर चले गये.

मैंने काजल को देखा और उसकी हालत भी ऐसी ही थी. वो गहरी साँसें ले रही थी और उसके टाइट कुर्ते में गिरती उठती चूचियाँ और भी आकर्षक लग रही थीं. मैंने फिर से मूवी को देखा. अब तो दोनों लड़कियों ने सारी हदें पार कर दी थी. दोनों ने अपनी नाइटी उतार दी थी और सिर्फ़ पैंटी में थीं. दोनों की बड़ी बड़ी चूचियाँ थीं और दोनों टॉपलेस होकर आकर्षक लग रही थीं. दोनों लड़कियों की नंगी चूचियाँ हिल डुल रही थीं और वो दोनों एक दूसरे के निप्पल को मरोड़ रही थीं. अब उन दोनों ने एक दूसरे की चूचियों को चाटना शुरू कर दिया और पैंटी के बाहर से नितंबों को मसलने लगीं.

तभी मुझे एक अजीब सा ख्याल आया. एक बार तो मैंने सोचा की सही नहीं रहेगा लेकिन काजल मेरे काबू में थी तो मैंने सोचा कर के देखती हूँ. मैं ये जो नये किस्म का आनंद टीवी पे देख रही थी इसको अनुभव करना चाह रही थी. दोनों लड़कियों ने अब पैंटी भी उतार दी थी और बड़ी बेशर्मी से एक दूसरे की चूत चाटने में लगी हुई थीं. इस देसी लेस्बियन सीन को देखकर मुझे बहुत कामोत्तेजना आ रही थी. अब मैंने अपना मन बना लिया.

“काजल…”

मैंने सख़्त लहजे में बोलने की कोशिश की लेकिन उत्तेजना से मेरी आवाज़ कांप गयी. काजल उस हॉट सीन को देखने में मस्त थी और मेरे आवाज़ देने से चौंक गयी. उसने मेरी तरफ उलझन भरी निगाहों से देखा.

“यहाँ आओ.”

काजल मेरे सामने आकर खड़ी हो गयी.

“मैंने फ़ैसला किया है की मैं तुम्हारे पेरेंट्स को सब कुछ सच बता दूँगी की तुम किन गंदी चीज़ों में वक़्त बर्बाद करती हो. ये तुम्हारी पढ़ाई का सवाल है और मैं कोई ….”

काजल – आंटी प्लीज़. क्या हुआ ? क्या अब मैंने कुछ ग़लत कर दिया ? प्लीज़ ऐसा मत करो. मम्मी मुझे मार डालेगी. आंटी प्लीज़.

“नहीं नहीं. मुझे सच बताना ही होगा.”

काजल अब मुझसे विनती करने लगी. उसने मेरे हाथ पकड़ लिए.

काजल – आंटी प्लीज़. अगर मम्मी को पता चल गया तो वो मेरा जीना दूभर कर देंगी. आंटी मैं आपके लिए कुछ भी करूँगी. प्लीज़ आंटी मम्मी को मत बताना, प्लीज़…

“ठीक है. लेकिन एक काम करना होगा.”

काजल – मैं कुछ भी करूँगी पर प्लीज़ आंटी मम्मी को मत बताना.
Reply

01-17-2019, 02:09 PM,
#50
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
काजल – मैं कुछ भी करूँगी पर प्लीज़ आंटी मम्मी को मत बताना.

“काजल, मैं चाहती हूँ की जो सीन मूवी में चल रहा है वैसा ही तुम भी करो.”

काजल ने ऐसा मुँह बनाया जैसे उसे कुछ समझ नहीं आया.

काजल – क्या ??

मैंने सीधे उसकी आँखों में सख्ती से देखा.

“जो टीवी में देख रही हो तुम्हें वैसा ही करना है.”

काजल – आंटी, मैं आपकी बात ठीक से समझ नहीं पा रही हूँ. आपका मतलब…

“हाँ काजल. अगर तुम इसे देखने के लिए इतनी उत्सुक हो तो मुझे लगता है की करने के लिए भी उतनी ही उत्सुक होगी. है ना ?” 

काजल ने बहुत आश्चर्य से मुझे देखा. वो मुझसे इस तरह के व्यवहार की उम्मीद नहीं कर रही होगी. लेकिन अभी मेरे लिए अपनी कामोत्तेजना को शांत करना ज़्यादा ज़रूरी था ना की इस बात की फिक्र करना की ये लड़की मेरे बारे में क्या सोचेगी.

काजल – आंटी, आपका मतलब मैं वैसा करूँ जैसा ये लड़कियाँ मूवी में कर रही हैं ?

“हाँ और जल्दी करो वरना….”

मुझे अपना वाक्य पूरा करने की ज़रूरत नहीं पड़ी क्यूंकी अब काजल राज़ी हो गयी.

काजल – ठीक है आंटी. मैं वैसा ही करूँगी.

इन सब बातों से काजल के चेहरे में घबराहट, चिंता और एक्साइट्मेंट के मिले जुले भाव आ रहे थे.

“मूवी को सीन के शुरू में लगाकर पॉज़ कर दो.”

अब मैं सोफे से उठ गयी और बेड में बैठकर काजल को बेड में आने का इशारा किया. उसने वीडियो को रीवाइंड करके लेस्बियन सीन के शुरू में लगाकर पॉज़ कर दिया. उसके बाद वो भी बेड में आ गयी. वो बहुत बड़े साइज़ का डबल बेड था. काजल बेड में घुटने के बल चलते हुए मेरे पास आई तो उसके कुर्ते की लटकी हुई नेकलाइन से मुझे उसकी कसी हुई चूचियाँ दिख रही थीं. 

“तुम्हारा बदन आकर्षक है.”

अब काजल कुछ बोल नहीं पा रही थी. उसके चेहरे से साफ पता लग रहा था की वो मेरे ऐसे व्यवहार से शंकित है. मैंने उसकी ब्रा साइज़ का अंदाज़ा लगाने की कोशिश की, 32 होगा. मैं जानती थी की जल्दी ही ये कॉलेज चली जाएगी और वहाँ बॉयफ्रेंड बना लेगी और उसकी मदद से इसकी चूचियाँ साइज़ में बढ़ जाएँगी.

“वीडियो को स्लो मोशन में ऑन कर दो और जैसा दिखे ठीक वैसा ही करना. ठीक है काजल ?”

काजल – ठीक है आंटी.

काजल अभी भी हिचकिचा रही थी. वीडियो स्लो मोशन में स्टार्ट हो गया और उसमें दो लड़कियाँ बेड में लेटे हुए बातें कर रही थीं. मैंने काँपते हाथों से काजल को अपने नज़दीक़ खींच लिया. मेरा पहला लेस्बियन अनुभव शुरू होने वाला था और मेरा दिल ज़ोर ज़ोर से धड़क रहा था. मैं भी अब नर्वस फील कर रही थी. मेरे छूने से काजल ने अपनी नज़रें झुका लीं और उसका खूबसूरत चेहरा लाल होने लगा. उसकी हथेलियाँ ठंडी थीं , शायद घबराहट की वजह से. मेरे बदन की गर्मी ने मेरे दिमाग़ को काबू में कर लिया था और मैंने काजल को.

मूवी में अब लड़कियाँ एक दूसरे से चिपटने लगी थीं. मैंने काजल को आलिंगन में ले लिया और उसकी कसी हुई नुकीली चूचियाँ मेरी बड़ी चूचियों से टकरा गयीं. वो मुझे पकड़ने में बहुत हिचकिचा रही थी. मैंने उसको अपनी पीठ पकड़ने को मजबूर किया और हम दोनों ने एक दूसरे के बदन पर हाथ फिराना शुरू कर दिया.

काजल – आंटी, मुझे बहुत अनकंफर्टेबल फील हो रहा है.

वो मेरे कान में फुसफुसाई. मैंने उसको और भी कस के आलिंगन में लिया और आश्वासित किया.

“अगर तुम्हें देखते समय अनकंफर्टेबल नहीं लगा तो अब क्यूँ शरमा रही हो ? सिर्फ़ मूवी देखो और कुछ मत सोचो.”

मैंने अपने गालों से उसके गालों को छुआ. उसकी त्वचा बहुत मुलायम थी. मूवी में लड़कियों ने चुंबन शुरू कर दिया था पर मुझे इस सेक्सी लड़की को चूमने की हिम्मत नहीं हो रही थी. मैंने उसकी कसी हुई चूचियाँ को पकड़ लिया और उसे गरम करने की कोशिश की. उसकी चूचियाँ बड़ी नहीं थीं पर कसी हुई और नुकीली थीं. मैंने उसके कुर्ते के ऊपर से निप्पल को अंगुली से छुआ तो काजल बहुत शरमा गयी.

“काजल, तुम्हारी त्वचा बहुत मुलायम है.”

काजल शरमाते हुए मुस्कुरायी. मैंने उसकी नुकीली चूचियों से एक हाथ हटा लिया और उसका हाथ पकड़कर अपनी चूचियों पर रख दिया. उसने मेरे ब्लाउज के बाहर से मेरी बड़ी चूचियों को महसूस किया और धीमे धीमे दबाने लगी. मूवी में लड़कियों की कामुक हरकतें देखकर मेरी कामोत्तेजना और भी बढ़ गयी. मैंने अपना पल्लू बेड में गिरा दिया और साड़ी और पेटीकोट को अपने घुटनों तक ऊपर खींच लिया. फिर काजल का कुर्ता भी उसकी छाती तक ऊपर कर दिया जिससे उसकी ब्रा दिखने लगी.

“काजल, अब मेरे हुक खोलो.”

मैं उसके कान में फुसफुसाई और उसका कुर्ता सर के ऊपर उठा दिया. काजल के ऊपरी बदन में अब सिर्फ़ ब्रा थी , मेरे ऐसा करने से उसके बदन में कंपकपी दौड़ गयी.

काजल – आंटी प्लीज़, ऐसा मत करो.

मैंने उसकी बात पर ध्यान नहीं दिया. मैं चाहती थी जैसी आग मेरे बदन में लगी है वैसी ही काजल के बदन में भी लगे. मैंने उसको अपने और नज़दीक़ खींचा और अपना बायां हाथ उसकी ब्रा के अंदर डालकर उसकी चूची को अपनी हथेली में पकड़ लिया. उसकी नंगी चूची में मेरे हाथ के स्पर्श से वो बहुत उत्तेजित हो गयी. मैंने उसके निप्पल को ज़ोर से मरोड़ दिया और वो कामोत्तेजना से सिसकने लगी. अब तक उसने भी मेरे ब्लाउज के हुक खोल दिए थे. अब हम दोनों ब्रा में थीं और एक दूसरे को आलिंगन किया हुआ था. अब मैंने उसकी सलवार का नाड़ा खोल दिया और उसको नीचे लिटाकर मैं उसके ऊपर आ गयी.

काजल – आउच….

हमारी ब्रा से ढकी हुई चूचियाँ आपस में टकरा रही थीं और फिर मैंने उसकी ब्रा उतारकर कसी हुई चूचियों को नंगा कर दिया. मैंने उन्हें छुआ और सहलाया. वो बहुत मुलायम महसूस हो रही थीं. काजल ने भी मुझे दोनों हाथों से अपने आलिंगन में कस लिया और मेरी ब्रा उतार दी , अब हम दोनों एक दूसरे की बाँहों में टॉपलेस थीं.

अब टीवी की तरफ देखने की भी ज़रूरत नहीं थी क्यूंकी हम दोनों पूरी गरम हो चुकी थीं. काजल के छूने और कस कर आलिंगन करने से मुझे भी मज़ा आ रहा था और उत्तेजना आ रही थी. वैसे उतनी नहीं जितनी की अगर काजल मर्द होती तो तब आती , लेकिन फिर भी मेरे लिए ये नया अनुभव था. मैं अभी भी काजल के ऊपर थी और वो मेरी चूचियों को सहला और दबा रही थी और मैं कामोत्तेजना से पागल हुई जा रही थी. मेरी पैंटी गीली हो गयी थी और अब मुझे नीचे भी कुछ चाहिए था.

“काजल डियर, अब कुछ और करो.”

काजल – क्या करूँ आंटी ?

“मेरी पैंटी खोलो और ….

मुझे अपनी बात पूरी करने की ज़रूरत नहीं पड़ी क्यूंकी काजल शरमाते हुए मुस्कुरायी और उसने सर हिलाकर हामी भर दी. मैं उसके ऊपर से उठी और बेड में लेट गयी. काजल तुरंत उठी और मेरे पैरों की तरफ जाने लगी. उसकी नंगी चूचियाँ हिलती हुई बहुत मनोहारी लग रही थीं. उसने मेरी साड़ी और पेटीकोट को कमर तक ऊपर उठाया और पैंटी के बाहर से मेरी चूत के ऊपर अपना हाथ रख दिया , मेरे बदन में सिहरन दौड़ गयी. मैंने अपनी बड़ी गांड उठाई और काजल को पैंटी उतारने में मदद की.

उसने मेरे घुटनों तक पैंटी नीचे कर दी और अपना दायां हाथ मेरी चूत पर रख दिया. वो मेरे प्यूबिक हेयर्स पर अंगुली फिरा रही थी और कुछ बाल उसने खींच भी दिए.

“आआअहह…….”

काजल – आंटी आपने तो यहाँ जंगल उगा रखा है.

हम दोनों ही उसकी बात पर हंस पड़े और फिर उसने मेरी चूत को सहलाना शुरू किया.

“आआहह , बहुत मज़ा आ रहा है.”

मेरे पति को भी ऐसा करना बहुत पसंद था. अपने हाथ से मेरी चूत को सहलाना, मेरे प्यूबिक हेयर्स को सहलाना , चूत की पूरी लंबाई में अंगुली फेरना और फिर चूत में अंगुली करना. लेकिन वो मुझे नीचे से नंगी करके ये सब करते थे जबकि काजल ने मेरे कपड़े नहीं उतारे थे , कोई भी औरत नंगी होने में अनकंफर्टेबल फील करती है. वैसे तो मैं अपने पति के साथ बेड पे नाइटी पहने रहती थी लेकिन शादी के शुरुवाती दिनों में कभी कभी वो मुझे स्कर्ट पहनने पर मजबूर करते थे और स्कर्ट उठाकर बेशर्मी से मेरी जवानी का मज़ा लेते थे. पर मैं चाहे कुछ भी पहनूं , स्कर्ट या नाइटी , वो मुझे पूरी नंगी करके ही मेरी चूत को सहलाते थे , जो मुझे सही नहीं लगता था क्यूंकी ज़्यादातर वो बनियान और पैजामा या शॉर्ट्स पहने रहते थे और मुझे अनकंफर्टेबल फील होता था की मैं ऐसे नंगी लेटी हुई हूँ और मेरे पैरों के पास मेरे पति अभी भी कपड़ों में हैं.

थोड़ी देर तक काजल मेरी चूत को सहलाती रही और अंगुली करती रही और मैं दोनों हाथों से अपनी चूचियों को मसलती रही और मज़ा लेती रही. मैंने टीवी की तरफ देखा तो मूवी में लेस्बियन सीन खत्म हो चुका था और एक दूसरा सीन चल रहा था जिसमें एक औरत जो करीब 35 बरस की होगी , फर्श पर पोछा लगा रही थी और सामने बैठे आदमी को अपनी बड़ी सी क्लीवेज दिखा रही थी. मैंने वापस काजल पर ध्यान दिया. कुछ ही देर बाद मुझे ओर्गास्म आ गया…..आआआआआआआआअह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह.

“अब बस करो और मेरे पास आओ.”

काजल ने साड़ी के अंदर से हाथ निकाल लिए और घुटनों पे चलती हुई मेरे पास आ गयी. उसके ऐसे चलने से दो संतरों की तरह लटकी हुई उसकी चूचियाँ ज़ोर से हिल रही थीं. कोई भी मर्द उन्हें देखकर मदहोश हो जाता. मैं सोचने लगी की मदहोश तो मुझे ऐसी टॉपलेस लेटी देखकर भी हो जाता. अपने ख्यालों पर मैं खुद ही मुस्कुराने लगी.

“तुम्हें भी ऐसा ही मज़ा चाहिए ?”

काजल – नहीं आंटी. मैं ठीक हूँ.

मैंने उसे अपने ऊपर खींच लिया और उसके गालों को अपने होठों से छुआ. और फिर उसके नरम होठों का चुंबन ले ही लिया. चुंबन ज़्यादा देर तक नहीं चला क्यूंकी हम दोनों ही अनकंफर्टेबल थीं क्यूंकी पहली बार किसी लड़की का चुंबन ले रही थीं. चुंबन लेने के बाद काजल हाँफने लगी और फिर से नर्वस दिखने लगी. मैंने उसे सहलाया और उसके मन से गिल्टी फीलिंग को हटाने की कोशिश की. मेरे पहले लेस्बियन अनुभव से मैं काफ़ी हद तक संतुष्ट थी. वैसे तो दोनों बार मैं चुदी नहीं थी, पहले गुप्ताजी के साथ बाथरूम में और अब काजल के साथ, लेकिन फिर भी मैं फ़्रस्ट्रेटेड नहीं फील कर रही थी.

“कौन पहले बाथरूम जाएगा ?”

काजल – आंटी अगर बुरा ना मानो तो मैं पहले जाना चाहती हूँ.

मैं मुस्कुरायी और सर हिलाकर हामी भर दी. काजल बेड से उतरी और टॉपलेस ही बाथरूम जाने लगी , वो बहुत सुंदर लग रही थी. उसने बेड से अपनी ब्रा और कुर्ता उठाया और एक नयी पैंटी निकालकर बाथरूम चली गयी. मुझे यहाँ दो ओर्गास्म आ चुके थे इसलिए कुछ थकान सी महसूस कर रही थी. मेरी पैंटी चूतरस से पूरी गीली हो चुकी थी. मैंने आँखें बंद कर लीं और थोड़ी देर तक काजल के बेड में आराम किया.

काजल – आंटी अब आप जाओ.

काजल फ्रेश होकर बाहर आ गयी और पहले से भी ज़्यादा सुंदर लग रही थी. मैं अभी भी बेड पर लेटी हुई थी और मेरी नंगी चूचियों पर तने हुए निप्पल छत को देख रहे थे. मैंने साड़ी से अपनी छाती ढकी और बेड से उतर गयी. मैंने बेड से अपनी ब्लाउज और ब्रा उठाई और बाथरूम को जाने लगी तभी काजल ने मुझे टोक दिया.

काजल – आंटी, मैंने पानी गिरा दिया था इसलिए बाथरूम का फर्श गीला हो गया है. आप साड़ी यही उतार दो तो सही रहेगा.

“हाँ ठीक है.”

मैंने साड़ी उतार दी और अब सिर्फ़ पेटीकोट में खड़ी थी. मेरी चूचियाँ मेरे हिलने डुलने से इधर उधर डोल रही थीं. मैंने ख्याल किया की काजल मेरी चूचियों को प्रशंसा के अंदाज़ में देख रही है , मुझे अपने फिगर पर गर्व महसूस हुआ. और मेरा मन हुआ की उसको अपना पूरा बदन दिखाऊँ.

“पेटीकोट भी यहीं उतारना ठीक रहेगा.”

काजल – जैसा आपको ठीक लगे आंटी.

मैंने पेटीकोट का नाड़ा खोल दिया और वो फर्श पर गिर गया. अब मैं काजल के सामने सिर्फ़ पैंटी में थी. काजल ने कुछ कहा नहीं, लेकिन मेरे नंगे बदन पर जमी उसकी नज़रों में प्रशंसा के भाव थे.

काजल – आंटी आपकी पैंटी खराब हो गयी है. ये पूरी गीली हो चुकी है.

ये सुनकर मैं थोड़ा शरमा गयी और नीचे झुककर देखा की पैंटी के सामने एक गोल धब्बा लगा हुआ है.

“इसको उतारना ही पड़ेगा. और कोई चारा नहीं है. ”

मैं बाथरूम चली गयी और दरवाज़ा बंद कर दिया. वैसे दरवाज़ा बंद करने की कोई ज़रूरत नहीं थी क्यूंकी मैं बेशर्मी से काजल को अपना नंगा बदन दिखा चुकी थी. पैंटी उतारकर मैंने अपने को पानी से साफ किया. और फिर टॉवेल से बदन पोंछ लिया. उसके बाद कमर में टॉवेल लपेटकर ऐसे ही बाथरूम से बाहर आ गयी.

“ऊइईइईइईइई …………”
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 280 830,913 06-15-2021, 06:12 AM
Last Post: [email protected]
Thumbs Up Kamukta Story घर की मुर्गियाँ desiaks 119 68,399 06-14-2021, 12:15 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Kamukta kahani अनौखा जाल desiaks 50 98,242 06-13-2021, 09:40 PM
Last Post: Tango charlie
Heart मस्तराम की मस्त कहानी का संग्रह hotaks 232 867,473 06-11-2021, 12:33 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up bahan sex kahani ऋतू दीदी desiaks 102 244,862 06-06-2021, 06:16 AM
Last Post: deeppreeti
Star Free Sex Kahani लंसंस्कारी परिवार की बेशर्म रंडियां desiaks 50 178,568 06-04-2021, 08:51 AM
Last Post: Noodalhaq
Thumbs Up Thriller Sex Kahani - कांटा desiaks 101 42,819 05-31-2021, 12:14 PM
Last Post: desiaks
Lightbulb Kamvasna आजाद पंछी जम के चूस. sexstories 123 577,460 05-31-2021, 08:35 AM
Last Post: Burchatu
Exclamation Vasna Story पापी परिवार की पापी वासना desiaks 200 602,037 05-20-2021, 09:38 AM
Last Post: maakaloda
Star Incest Kahani दीदी और बीबी की टक्कर sexstories 49 723,561 05-17-2021, 08:31 AM
Last Post: Burchatu



Users browsing this thread: 9 Guest(s)