Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
09-03-2023, 08:53 AM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह


CHAPTER 7-पांचवी रात

योनि पूजा

अपडेट- 45

नितम्ब पर लाल निशान के उपाए 


मैंने निर्मल की तरफ देखा हमेशा की तरह दुष्ट बौना मुस्कुरा रहा था! मैंने उसके चेहरे से हटा कर अपना ध्यान फिर से संजीव की ओर किया।

संजीव: मैडम, हम नहीं चाहते कि आप ऐसी स्थिति में हों। क्‍योंकि मैडम आपकी गांड का रंग इतना गोरा है, गुरुजी उस लाल निशान को देखने से नहीं चूकेंगे ...

निर्मल: और जब वह पूछेंगे और हम अगर हम सच्ची घटना को बताने की कोशिश भी करते हैं तो वह-वह आपकी बात को सच नहीं मानेंगे, गुरूजी निश्चित रूप से यह निष्कर्ष निकालेंगे कि आप हमारे साथ सेक्स करने में शामिल हुई हैं ... वास्तव में प्रियंवदा देवी मामले के बाद और आप और भी परेशान हो सकती हैं। आपके अभी तक के सभी अच्छे काम बिगड़ जाएंगे।

जिस तरह से निर्मल ने चीजें रखीं, उसी बात पर मुझे फौरन यकीन हो गया।

संजीव: मैडम, निर्मल बिल्कुल ठीक कह रहा हैं। गुरु जी आप की बात पर विश्वास नहीं करेंगे। वास्तव में पुरुषों के विपरीत, एक चुदाई के बाद एक महिला अक्सर और अधिक की इच्छा करती है और गुरु-जी निश्चित रूप से यही निष्कर्ष निकालेंगे कि आप हमारे साथ संभोग में शामिल थी और हमने आपकी गांड को इतनी जोर से निचोड़ा है कि यह इस तरह लाल दिख रही है! अब मुझे एहसास होने लगा था कि मैंने जो गुरूजी के साथ योनि सुगम के बाद जो दुबारा चुदाई की थी वह वास्तव में सपना ही था ।


[Image: SLAP2.webp]


निर्मल ने फिर टॉर्च जलाई और मेरे नंगे नितम्बों को देखा।

निर्मल: ईश... मुझे इतना जोर का थप्पड़ नहीं मारना चाहिए था! मैडम! फिर से सॉरी।

संजीव: दूध छलकने पर रोने से कोई फायदा नहीं हैं। मैडम, अब आप तय करें कि क्या करना है। ऐसे जाओगे या...

मेरे पास कोईऔर विकल्प नहीं था और मुझे उनकी योजना के आगे झुकना पड़ा!

मैं: तु... हाँ... मेरा मतलब है नहीं, जाहिर तौर पर नहीं। मैं इस योनी पूजा को दोबारा नहीं कर सकती ... ओह! नहीं!

संजीव: तब तो हमारे पास एक ही रास्ता बचा है!

मैं: वह क्या है?

संजीव: मैडम क्योंकि आपकी गांड का दाहिना भाग लाल रंग का दिख रहा है, हम एक काम कर सकते हैं-हम बाईं ओर भी वही लाल रंग लाने की कोशिश कर सकते हैं!



[Image: ASS-RED.webp]

मैं: क्या?

संजीव और निर्मल दोनों ने मुझे अजीब तरह से देखा।

मैं: तुम्हारा मतलब है कि तुम मुझे फिर से वहाँ थप्पड़ मारोगे!

संजीव: क्या आपके दिमाग में कोई और तरीका है?

मैं: लेकिन... लेकिन...

मैं एक विकल्प के बारे में बहुत सोचने की कोशिश कर रहा थी, लेकिन मुझे किसी विकल्प का मुझे कोई सुराग नहीं मिल रहा था। फिर निर्मल ने समाधान रखा ।

निर्मल: मैडम, मैंने ज्यादातर गोरे रंग की औरतों में एक बात नोटिस की है कि अगर आप उनके शरीर के किसी हिस्से को कुछ देर के लिए दबाइये, निचोड़ें और मलें तो वह तुरंत लाल हो जाता है।

उसी क्षण मुझे याद आया की मेरे पति ने भी एक या दो बार यह कहा था कि जब उन्होंने जोर से चिकोटी / मालिश की थी तो मेरे नितंब लाल हो गए थे।

मैं: ठीक है, ठीक है! तुम सही हो!


[Image: spank2.webp]

मैं लगभग एक बच्चे की तरह ख़ुशी से चिल्लायी। उन दोनों ने मुझे कुछ अविश्वास से देखा-ऐसा लग रहा था कि मैं अपने नितम्ब पर एक चुटकी लेने के लिए बहुत उत्सुक हूँ! तुरंत मुझे एहसास हुआ कि मैं जो सोच रहा था उसे शब्दों में बयाँ नहीं कर सकती थी।

मैं: मेरा मतलब है... ठीक है, लेकिन किसी भी तरह से मैं इस योनी पूजा को फिर से नहीं करुंगी।

संजीव: मैडम, चिंता मत करो, तुम बस खड़ी रहो, बाकी हम कर लेंगे।

निर्मल: तुम्हारे दोनों नितम्बो के गाल एक जैसे लाल लगेंगे और गुरु जी नहीं पकड़ पाएंगे! इस तरफ आओ मैडम।

निर्मल और संजीव लगभग मुझे घसीटते हुए एक अंधेरे कोने में ले गए, लेकिन यहाँ एक रेलिंग थी।

संजीव: मैडम, उस रेलिंग को दोनों हाथों से पकड़ लो और इस प्रकार से सिर्फ अपने शरीर को कमर से मोड़ो।

उन्होंने इसे मेरे लिए कैसे शरीर मोड़ना है प्रदर्शित किया। उसने रेलिंग पकड़ी, अपने हाथ फैलाए और फिर अपने शरीर को कमर से इस तरह मोड़ा कि उसके कूल्हे बाहर की ओर निकल आए। हालांकि मुद्रा बल्कि अश्लील थी, लेकिन मैं "पुनः" योनी पूजा की स्थिति से बचने के लिए बहुत उत्सुक थी।


[Image: ASS-MASS3.webp]

जैसे ही मैं इस तरह खड़ा हुई, मुझे लगा कि एक जोड़ी हाथ (बेशक संजीव के) मेरे चिकने बाएँ नितम्ब के गाल को छूने के बाद महसूस कर सहला कर, फिर दबा कर और निचोड़ने के बाद मालिश करना और रगड़ना शुरू कर रहे हैं। जैसे ही उसकी उंगलियाँ मेरे नंगे बाएँ नितंब को छूयी, स्वाभाविक रूप से मेरा पूरा शरीर कांपने लगा, लेकिन मुझे खुद को नियंत्रित करना था क्योंकि इस पूरी क्रिया का मुख्य उद्देश्य मेरी बाईं गांड पर भी लाल रंग लाना था।

निर्मल: मैडम, चूंकि हमारे पास बहुत कुछ नहीं है, मुझे लगता है कि अगर मैं धीरे से आपकी दूसरी गांड की मालिश करूं तो लाल धब्बे की प्रमुखता जल्दी ही कम हो कर खत्म हो जाएगी।


[Image: ASS-MASS2.gif]

मैं: ओ... ठीक है।


[Image: ASS-MASS1.webp]

मैंने सोचा कि यह तार्किक था, क्योंकि मैं खुद अपने दाहिने गधे को मालिश करने के बारे में सोच रही थी, क्योंकि यह अभी भी दर्द कर रहा था। मेरा पूरा ध्यान प्रियंवदा देवी की घटना से उतपन्न परिस्तिथि टालने पर था। तुरंत मैंने अपने दूसरे गाल पर हाथो का एक और सेट महसूस किया। दोनों अपनी मर्जी से मेरे सख्त नितम्ब के तलवों को सहला रहे थे और रगड़ रहे थे।

संजीव: निर्मल एक बार टॉर्च जलाओ... 

निर्मल ने फिर से मेरी नंगी गांड पर टॉर्च जलाई।

संजीव: मैडम, लाल नहीं हो रहा है। क्या मैं थोड़ा और बल लगाऊँ?

मैं: इस्सस! ज़रूर।


[Image: ASS-MASS4.gif]


संजीव अब खुल्लम खुल्ला दोनों हाथों से मेरी चिकनी कद्दू जैसी गांड को सहलाने लगा। वह मेरी गांड का मांस गूंध रहा था और अपनी उंगलियाँ मेरी गांड की त्वचा पर गहरी खोद रहा था। वह कई बार मेरी गांड पर चुटकी भी ले रहा था, जबकि निर्मल अपने दृष्टिकोण में अधिक कोमल था क्योंकि वह रगड़ता था और मेरी पूरी दाहिनी गांड की चिकनाई महसूस करता था।

मैं: क्या यह लाल हो रही है?

मुझे बेशर्मी से पूछना पड़ा क्योंकि दो आदमियों की इस बेहद कामोत्तेजक हरकत की वजह से गर्म हालत की वजह से मैं अपनी सीमा तक पहुँच गयी थी।

संजीव: कुछ पल और रुको। लाल होने लगा है। महोदया। निर्मल आप सिर्फ उस जगह को नहीं रगड़ो नहीं जहाँ आपने थप्पड़ मारा था, आप मैडम की पूरी गांड को लाल करने की कोशिश करो। तभी यह बराबर दिखेगा।

मैं उस बयान से अवाक रह गयी क्योंकि मुझे लगा कि निर्मल ने अपने बौने हाथों से मेरी दाहिनी गांड के गाल को जोर से मसलना शुरू कर दिया है। संजीव भी मेरे बाएँ गाल पर और जोर से मालिश करने लगा। मैं पहले से ही दो पुरुषों के साथ लगातार अपने बड़े आकार के कद्दू नितम्बो के साथ खेलकर पसीना बहा रही थी। मेरे निप्पल खड़े और सख्त हो गए थे और रेलिंग पर मेरी पकड़ भी संजीव और निर्मल की ओर से मेरे बट्स पर हर बार निचोड़ने के साथ कड़ी होती जा रही थी।

मैं अपने आप पर नियंत्रण नहीं रख सकी और धीरे-धीरे कराहने लगी क्योंकि मुझे यह काफी पसंद आने लगा था। मेरी कोमल कराह सुनकर दोनों पुरुषों ने मेरी गांड को और जोर से निचोड़ना शुरू कर दिया और मैं महसूस कर रही थी कि उनमें से एक ने मेरी गहरी गांड की दरार को ट्रेस करना शुरू कर दिया था और अपनी उंगली मेरी गुदा की ओर बढ़ा दी थी!

मैं अब थोड़ा जोर से कराह रही थी क्योंकि मैंने अपने पूरे नितंबों पर पुरुषो के हाथों का आनंद लेना शुरू कर दिया था और दो पुरुष मेरे नितम्बो के साथ न्याय कर रहे थे और मुझे जल्द ही एहसास हुआ कि उनके शरीर मेरे करीब आ रहे हैं। संजीव और निर्मल के हाथ अब मेरे कूल्हों की परिधि तक ही सीमित नहीं थे और मेरी चिकनी नंगी पीठ और मेरी नग्न ऊपरी जांघों के पिछले हिस्से को छूने और महसूस करने लगे थे।

यह कुछ और क्षणों के लिए चला क्योंकि मैंने बेशर्मी से इस युगल मालिश सत्र का आनंद लिया।

संजीव: मैडम, नहीं हो रहा है... मेरा मतलब

निर्मल मैडम आपका ये वाला नितम्ब भी पहले जितना ही लाल है, मतलब आपकी पूरी गांड पहले जैसी ही है ।

यह सुनकर मैं मुस्कुराना बंद नहीं कर सकी और साथ ही साथ खूब शरमा गयी। गुरु जी द्वारा चुदाई के बाद मेरे अंदर कामेच्छा कम हो गई थी, लेकिन इन दोनों पुरुषों ने चतुराई से मुझे फिर से गर्म कर दिया था।

मैं: तो फिर कुछ करो... मेरा मतलब... अरे इसे कुछ और समय के लिए करो।

संजीव: मैडम, मुझे लगता है कि इसे लाल करने के लिए कुछ हल्के थप्पड़ मारने की जरूरत हैं ... अरे... मेरा मतलब है कि मैडम केवल आपकी गांड और नितम्बो को दबाने और मालिश करने से मनचाहा परिणाम नहीं मिल रहा है।

मैं: (उत्साहित हो कर) अरे... तो वह करो!

मैं खुद हैरान थी कि मैं इतनी आसानी से अपनी गांड की पिटाई के लिए राजी हो गयी थी!

संजीव: ठीक है, मैडम, मैं अच्छी तरह जानता हूँ कि आप योनी पूजा फिर से नहीं करना चाहतीं...निर्मल, आप बस मैडम की दाहिनी तरफ मालिश करें और मैं धीरे से मैडम की बायीं गांड पर थपथपाऊंगा।


[Image: SPANK-ASS.webp]

यह कहते हुए संजीव ने तुरंत मेरे बाएँ नितंब पर हल्के से थपथपाना शुरू कर दिया और देखते ही देखते मेरी नंगी गांड पर जोर से थप्पड़ मारने लगा। मेरी गांड बहुत सख्त थी, मांस हिलने लगा और कंपन होने लगा जैसे ही संजीव ने एक के बाद एक थप्पड़ मारे। निर्मल मेरी दूसरी गांड के गालों को विवेकपूर्ण तरीके से सहला रहा था मानो उसके थप्पड़ की तारीफ लकर रहा हो।

मोटा! मोटा! मोटा!

जैसे ही उसकी हथेली ने मेरी चिकनी गोल गांड पर हाथ फेरा तो अजीब-सी आवाजें निकल रही थीं। तीव्रता भी बढ़ती जा रही थी और एक बार मैं रो पड़ी!

मैं: आउच! स्स्सस्स्स्स धीरे करो!

संजीव: मैडम, अगर मैं आपको जोर से थप्पड़ नहीं मारूंगा तो आपकी गांड लाल कैसे होगी? मैंने अपनी नंगी गांड पर कम से कम एक दर्जन से पंद्रह कड़े थप्पड़ तब तक बर्दाश्त किये जब तक कि वह समाप्त नहीं हो गया।

संजीव: मैडम, अब तो आपकी पूरी गांड भी एक जैसी लाल दिखती है। वह-वह ...

मेरी गांड की चमड़ी मानो जल रही थी और उससे बहुत गर्मी निकल रही थी। मैंने अपने दाहिने हाथ से मेरी नंगी गांड को छुआ और अपने पिटाई के इस अनुभव के बाद मुझे इतना "गर्म" लगा! । मेरी चूत फिर से गीली हो गई थी और जैसे ही मैं संजीव की ओर मुड़ी, मैंने देखा कि वह मेरे सूजे हुए उभरे हुए निप्पलों को देख रहा था।

संजीव: मैडम, अब आप सेफ हैं, लेकिन...

मैं: फिर से लेकिन?

[Image: ASS-MASS.webp]

संजीव मुस्कुराया और मैं भी मुस्कुरायी क्योंकि ईमानदारी से कहूँ तो मैंने उस नितम्बो की पिटाई का पूरा आनंद लिया जो उसने मुझे मेरी गांड पर दी थी।

संजीव: मैडम, बस थोड़ा-सा पैचअप गुरु जी के सामने आपको बिल्कुल सुरक्षित कर देगा। मैं: और क्या?

निर्मल: मैडम, आप खुद देख सकती थीं तो आप खुद ही कह सकती थीं।

बौना निर्मल दुष्टता से मुस्कुरा रहा था। मैंने अपने सुडौल धड़ को नीचे देखा, लेकिन कुछ भी असामान्य नहीं पाया। <

मैं: मैं नहीं देख पा रही हूँ...

संजीव: मैडम, आपकी गांड इतनी लाल दिखती है, लेकिन आपके शरीर का कोई और स्थान ऐसा नहीं दिखता है। क्या यह असामान्य नहीं है?

यह निश्चित रूप से मेरे दिमाग में पहले नहीं आया था और मैं फिर से भ्रमित हो गयी क्योंकि किसी भी परिस्थिति में मैं योनि पूजा दुबारा करने के सम्बंध में कोई समझौता करने के लिए तैयार नहीं थी और योनि पूजा फिर से नहीं करना चाहती थी।

निर्मल: मैडम, आपका पिछला हिस्सा गुलाबी दिखता है, अगर आपका आगे का हिस्सा भी ऐसा ही दिखे तो गुरु जी निश्चित रूप से कोई सवाल नहीं उठाएंगे।


[Image: SLAP-RED.webp]

संजीव: हाँ मैडम, बिल्कुल भी टाइम नहीं लगेगा।

निर्मल: 2 मिनट की मैगी!

मैं: क्या?

संजीव: मैडम, उसका मतलब था कि जैसे मैगी बनाने में सिर्फ दो मिनट लगते हैं, वैसे ही आपके बदन के अगले हिस्सों को भी लाल करने में भी सिर्फ दो मिनट लगेंगे।

मैं: ठीक है, लेकिन... कहाँ... मेरा मतलब है कि कहाँ... अरे... मेरे बदन के किस हिस्से में लाल दिखने की ज़रूरत है?


जारी रहेगी ... जय लिंग महाराज !
Reply
10-14-2023, 11:51 AM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह


CHAPTER 7-पांचवी रात

योनि पूजा

अपडेट- 46

बदन के हिस्से को  लाल करने की ज़रूरत



निर्मल: मैडम, अब  आपका पिछला हिस्सा गुलाबी दिख रहा  है, अगर आपका आगे का हिस्सा भी ऐसा ही दिखे तो गुरु जी निश्चित रूप से कोई सवाल नहीं उठाएंगे।

संजीव: हां मैडम, बिल्कुल भी टाइम नहीं लगेगा। 

निर्मल: बिलकुल 2 मिनट की मैगी की तरह फटाफट !

मैं क्या?

संजीव: मैडम, उसका मतलब था कि मैगी बनाने में सिर्फ दो मिनट लगते हैं, वैसे ही आपके बदन के अगले हिस्सों को  लाल करने में भी सिर्फ दो मिनट लगेंगे।

मैं: ठीक है, लेकिन... कहाँ... मेरा मतलब है कि  कहाँ... अरे.. अबमेरे बदन के  किस हिस्से को  लाल दिखने की ज़रूरत है?
 
संजीव: कॉम' ऑन मैडम! इतनी भोली  मत करो! वह वह ...


[Image: boobs.webp]

मैं वास्तव में निश्चित नहीं थी , हालांकि मेरे जुड़वां ऊपरी गोल गोलियों पर उनकी निगाहों से अनुमान लगा सकती थी । क्या वो  मेरे स्तनों को मेरी गांड से मेल खाने के लिए लाल दिखाने के लिए निचोड़ने की योजना बना रहे हैं! हे भगवान!

संजीव : मान जाओगे तो लाल कर देंगे , नहीं तो तुम ऐसे ही जा  सकती  हो!

मैं असमंजस में थी  और डर रहा थी  कि अगर गुरु जी ने मुझसे पूछताछ की तो मैं निश्चित रूप से उनके व्यक्तित्व के सामने झूठ नहीं बोल पाऊंगी । तो मेरे लिए कोई और रास्ता नहीं था!

मैं: ओके, आगे बढ़ो।

मुझे अभी भी यकीन नहीं था कि वे क्या कर रहे थे, लेकिन निश्चित रूप से इसका अनुमान लगा सकती थी ।

संजीव: मैडम, जैसे आप खड़े थे, वैसे ही खड़े रहिए, जब मैं आपकी गांड को  मार कर लाल  कर रहा था। मैं सब जरूरी काम करूंगा।


[Image: BOOB2.webp]

मैंने देखा कि निर्मल निढाल पड़ा है और मैं पहले जैसी मुद्रा में खड़ी हुई  तो संजीव ने तुरंत अपनी बाँहों को मेरी काँखों से होते हुए मेरे नग्न लटकते स्तनों को पकड़ लिया।

मैं: आउच! ऊऊ...

मैं केवल इतना ही प्रतिक्रिया कर सकती थी . मुझे लगा कि उसकी हथेलियों ने मेरे स्तन को बहुत कसकर पकड़ लिया है और उन्हें निचोड़ना शुरू कर दिया है। संजीव की हथेलियाँ काफी बड़ी और खुली होने के कारण वह मेरी पूरी तरह से विकसित स्तनियों को पर्याप्त रूप से पकड़ने और उन्हें अपनी मर्जी से दबाने और गूंथने में सक्षम थी ।

मैं पहले से ही बहुत उत्तेजित  थी और जैसे ही मुझे सीधे मेरे नग्न स्तनों पर पुरुष का स्पर्श मिला, मैं बहुत अधिक उत्तेजित हो रही थी। मैंने  संजीव के शरीर को अपनी पीठ से दबाते हुए महसूस किया और  वह मेरे कठोर निप्पलों के साथ खेल रहा था - उन्हें अपनी उंगलियों से घुमा रहा था। मेरा पूरा शरीर संजीव के शरीर में घुस गया था और मैं खुद पर से नियंत्रण खोती  जा रही थी । उसने अपने दोनों हाथों से मेरे बूब्स को निचोड़ा और यह महसूस करते हुए कि मैं भी सकारात्मक मूव्स और हरकतो का संकेत दे रही हूं, वो  अपना मुंह मेरे गालों के पास ले लिया और अपने होठों को उन पर रगड़ने लगा।

मैं:  आआआआआआआआआआआआआआआ


[Image: back-boob.gif]
rollable d4

मैं बेशर्मी से अपने पति के अलावा एक पुरुष के हाथों अपने स्तन मसलवा रही थी और कराह रही थी जो मेरी नग्न अवस्था में मेरा आनंद ले रहा था और मेरे जुड़वां स्तनों को कुचल रहा था। उत्तेजना में मैंने ध्यान ही नहीं दिया कि निर्मल ने इस बीच संजीव की धोती खोल दी थी और वह अब पूरी तरह नंगा था। मुझे इसका एहसास तब हुआ जब मैंने अपनी चूत के छेद के पास एक बड़ा धक्का महसूस किया और महसूस किया कि उसकी नंगी मर्दानगी वहाँ चुभ रही है। हालाँकि मेरी यौन उत्तेजित स्थिति मुझे उसके लंड को तुरंत अपने अंदर ले जाने और एक और चुदाई का आनंद लेने का आग्रह कर रही थी, लेकिन मेरे दिमाग में खतरे की घंटी बजने लगी।

मैं: संजीव... नहीं... प्लीज... नहीं...

संजीव: (अपने मोटे खड़े लंड को मेरी दोनों टांगों के बीच में दबाते हुए) मैडम क्या नहीं?

मैं: नहीं... इसमें मत प्रवेश करो... प्लीज...

संजीव: (मेरे गालों और होठों के किनारों को चूमते हुए) क्यों मैडम? क्या आप इसका आनंद नहीं ले रही  हैं? 

मैं: नहीं... अरे.. आआआआ... हां... लेकिन... गुरु-जी...

संजीव : गुरु जी को कभी कुछ पता नहीं चलेगा। मैं सब निशाँ और सबूत  मिटा दूंगा...

इतना कहकर उसने मेरे निचले होठों को अपने हाथों में ले लिया और मुझे मेरे  ऊपरी  ओंठो पर किस करने लगा। मैं महसूस कर सकता था कि मुझे घेरा जा रहा था और अगर मैंने थोड़ी सी भी सकारात्मक चाल दिखाई, तो मुझे अपनी दूसरी चुदाई इस  पुरुष से करवानी पड़ेगी !

मैं: उम्म्म... उह! (मैंने उसके होठों को अलग किया) नहीं संजीव... नहीं...


[Image: stand1.gif]

संजीव: क्यों मैडम? मैं तुम्हें पूरी संतुष्टि दूंगा। मेरा लंड देखो!

मैं: नहीं... नहीं। मैं ऐसा नहीं कर सकती । मुझे गुरु-जी के नियमो को का पालन करना है ।

मैं अब उसके चंगुल से छूटने की जद्दोजहद करने लगी । उसके हाथ अभी भी मेरे स्तनों पर थे और उसके होंठ मेरे चेहरे के किनारों पर घूम रहे थे।
 
संजीव: लेकिन मैडम, मैं आपको इस हालत में नहीं छोड़ सकता। मैं पूरी तरह उत्तेजित  हूं देखिये मेरा लिंग कैसे कड़ा और खड़ा हो गया है ।

मैं: संजीव, प्लीज... नहीं 

संजीव : देखिए मैडम मेरे पास खोने के लिए कुछ नहीं है। यदि आप लड़खड़ाते हैं तो आप  ही अपने इच्छित लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर पाएंगी ।

मैं: संजीव! प्लीज रुक जाओ . ये मत करो !

मैं समझ गयी थी की अब मैं फंस गयी हूँ और यह आदमी मेरी इस  कमजोर  स्थिति का पूरा फायदा उठा रहा था।

संजीव : तुम्हारे बड़े स्तनों और मस्त गोल गांड का मज़ा लेने के बाद कोई तुम्हें कैसे छोड़ सकता है! बिल्कुल नहीं! तुम बिकुल एक सेक्सी कुतिया हो!

संजीव ने अब अपना एक हाथ मेरे स्तनों पर से हटा दिया और मेरे घने बालों से खेलने लगा। मैं अपने आप को मुक्त करने के लिए संघर्ष कर रही थी  लेकिन इस प्रक्रिया में वास्तव मेंवो  मेरे बड़े गोल बट को अपने क्रॉच में दबा रहा था जिससे मेरे लिए चीजें बदतर हो रही थीं। मुझे साफ महसूस हो रहा था कि संजीव का टाइट लंड मेरी चूत के छेद पर जोर दे रहा है!

[Image: stand.gif]
roll 1d20

मैं: संजीव... प्लीज... मुझ पर रहम करो.. .. मैं यहाँ किस लिए आयी  हूं.. ये . तुम्हें अच्छी तरह से पता है...

संजीव उसी उदेशय के लिए तो चुदाई जरूरी है एक और चुदाई और बार बार चुदाई से ही बच्चे होंगे !

मैंने उनसे अपनी इज्जत की भीख माँगनी शुरू कर दी और बहुत समझाने के बाद मैं अपने आप को छुड़ा सका, लेकिन मुझे एक बार फिर समझौता करना  पड़ा !

संजीव: ठीक है तो मैडम, आपकी प्राथमिक चिंता खत्म हो गई है, क्योंकि आपके स्तन  अब आपकी गांड के समान लाल दिख रहे है। और आपने वादा किया है कि महायज्ञ समाप्त होने के बाद और आपके परिवार के आपको लेने के लिए आने से पहले, हम एक बार मिलेंगे।  ठीक है ?

मैंने बस सिर हिलाया।

संजीव: मैडम अगर आप बाद में अपने बाड़े से हटेंगी तो मैं जबरदस्ती करने से नहीं हिचकिचाऊंगा। मैं आपको बताता हूँ और यदि आप गुरु जी को विश्वास में लेने की कोशिश करेंगे तो आपको इसका परिणाम भी आपको  भुगतना पड़ेगा!

जारी रहेगी ... जय लिंग महाराज !
Reply
10-14-2023, 11:53 AM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह


CHAPTER 7-पांचवी रात

योनि पूजा

अपडेट- 47

आश्रम का आंगन - योनि जन दर्शब  

मैंने गौर किया कि संजीव की बोली और उसके चेहरे के हाव-भाव से अचानक शिष्टता गायब हो गई और वह बस एक "जानवर" की तरह दिखाई देने लगा।

संजीव: सुन साली! अगर तुम इस बारे में गुरु जी से कुछ कहोगी तो मैं तुम्हें इस तरह नंगी ही पूरे गाँव में घुमाऊंगा-बिलकुल नंगी और फिर तुम्हारा गैंगबैंग होगा और गाँव में तुम पता नहीं किस-किस से कितनी बार! रंडी छिनाल साली!

यह कहते हुए कि उसने आखिरी बार मेरी नंगी गांड पर थप्पड़ मारा और मैं लगभग सिसकने के कगार पर थी।



[Image: nude-back.webp]
निर्मल: चलो चलते हैं। मैडम, मुझे लगता है कि आप काफी ठीक दिख रही हैं। आपके स्तन अब लाल रंग का रंग दिखा रहे हैं, जैसा कि आपके नितंब भी लाल हैं। गुरु-जी कुछ भी असामान्य नहीं खोज पाएंगे।

शुक्र है कि यह अंतता खत्म हो गया था! मैंने अपनी आँखें पोंछीं और गलियारे के अंत की ओर चलने लगी और यथासंभव सामान्य दिखने की पूरी कोशिश की। मुझे अभी भी अपनी गांड में हल्की जलन महसूस हो रही थी और संजीव के ज़ोर से निचोड़ने की वजह से मेरे सख्त स्तन तने हुए थे।

कुछ ही पलों में हम गलियारे के आखिरी छोर पर पहुँच गए और मुझे आंगन दिखाई देने लगा। जैसे ही मैं आंगन की सीढ़ियाँ उतरी, मेरे भारी स्तन बहुत ही अश्लील ढंग से हिल रहे थे और मेरे साथ मौजूद दोनों पुरुषों का ध्यान आकर्षित कर रहे थे। मैंने अपने पैरों के नीचे गीली घास को महसूस किया, यह ईमानदारी से एक अविश्वसनीय अनुभव था।

मेरे जीवन में कभी ऐसा अनुभव नहीं हुआ था-आधी रात को खुले में घास पर नंगा चलना! गुरु जी ने मुझसे ऐसा करवाया और ईमानदारी से कहूँ तो यह एक शानदार अनुभव था। अगर पुरुष मौजूद नहीं होते, तो जाहिर तौर पर यह बहुत रोमांचकारी होता।


[Image: nude02.webp]

गुरु जी: आज के महा-यज्ञ के अंतिम भाग यानी योनी जन दर्शन में रश्मि का स्वागत है। मुझे उम्मीद है कि मुझे इन लोगों को फिर से आपसे मिलवाने की जरूरत नहीं पड़ेगी?

मैंने अपने मन में बहुत प्रार्थना की कि गुरु जी को मेरे अंतरंग क्षेत्रों में मेरे शरीर पर लाल रंग नज़र न आए और सौभाग्य से उन्होंने मुझसे मेरी गांड पर दिखाई देने वाली प्रमुख लाली के बारे में पूछताछ नहीं की।



गुरु जी ने मास्टर जी, पांडे जी, छोटू और मिश्रा जी की तरफ इशारा किया। मैं इस पूरी तरह से उजागर स्थिति में उनकी आँखों से नहीं मिल सकी। उनकी आँखों को देखने की कोई आवश्यकता नहीं थी क्योंकि वे मेरी शारीरिक सुंदरता को चाट रहे होंगे-कुछ की नज़र मेरे "दूध" पर थी और दूसरों की नज़र मेरे "चूत" पर थी।

मिश्रा जी: बेटी, मैं तुमसे "कैसी हो" नहीं पूछूंगा, क्योंकि मैं स्पष्ट रूप से देख सकता हूँ कि तुम्हारा शरीर कितना फिट है! वह बेशक अपने सूक्ष्म सेंस ऑफ ह्यूमर के साथ वहाँ उपस्थित थे।

मास्टर जी: मैडम, काश मैं आपका माप इस हालत में ले पाता। मुझे पूरा विश्वास है तब आपको अपने पहनावे को लेकर एक भी शिकायत नहीं होती!

पांडे-जी: मैडम, आप सुंदर लग रही हैं ... मेरा विश्वास करो मैं अतिशयोक्ति नहीं कर रहा हूँ!

छोटू: मैडम, इसे कहते हैं जैसे को तैसा! उस दिन तुमने मुझे नहाते समय नंगा देखा था, आज उसकी भरपाई के लिए तुम मेरे सामने नग्न हो।

गुरु जी: हा-हा हा... ठीक है, ठीक है। चलो और समय बर्बाद मत करो। कृपया अपना पद ग्रहण करें। बेटी, अपनी बाहों को मोड़ो और उस मंत्र का जाप करो जो मैं अभी बोलता हूँ।

मैं प्रार्थना के लिए स्थिति में खड़ी थी-अभी भी पूरी तरह से नग्न-ठंडी हवा मेरे निपल्स को सख्त और सीधा बना रही थी और मेरी नंगी जांघों पर रोंगटे खड़े कर रही थी। गुरु जी ने एक मंत्र बोला और मैंने उसे हाथ जोड़कर दोहराया। अब कम से कम मेरे बड़े गोल स्तन कुछ ढके हुए थे क्योंकि इस प्रार्थना के दौरान मेरी बाहें मेरे स्तनों को लपेट रही थीं। मास्टर-जी, पांडे-जी, छोटू और मिश्रा-जी ने मुझसे काफी दूर-कम से कम 15-20 फीट दूर-चार कोनों पर पोजीशन ले ली थी।



[Image: wash0.webp]
image upload
गुरु जी: उदय, उसे पानी दो। बेटी, यह नदी का पवित्र जल है और तुम्हें इससे अपनी योनि को धोना है।

उदय ने मुझे पानी का एक कटोरा दिया और मैंने बेशर्मी से उन आठ वयस्क पुरुषों के सामने अपनी चुत पर छिड़क दिया (इसमें मैं छोटू की उपेक्षा कर रही हूं) ! मैंने अपनी चुत को पवित्य जल से रगड़ा और फिर गुरु जी की ओर देखा कि क्या वे संतुष्ट हैं।

गुरु जी: अपनी चुत के बाल भी धो लो बेटी।

हर किसी का ध्यान स्वाभाविक रूप से मुझ पर था क्योंकि मुझे वह "अश्लील" आदेश गुरु जी से मिला था। मैं बहुत शर्मिंदा महसूस कर रही थी, लेकिन इसके बारे में कुछ भी नहीं कर सकती थी। मैंने दाँत भींच लिए और गुरु जी की बात मान ली और अपने योनि के बालों को जल से धोना शुरू कर दिया। मैंने संजीव को कटोरा दिया और वास्तव में यह एक अविश्वसनीय दृश्य था-मैं खुले में नग्न खड़ी थी और मेरी चुत से पानी टपक रहा था! मैंने क्षण भर के लिए अपनी आँखें बंद कर लीं और इस परम अपमानजनक स्थिति का मुकाबला करने के लिए अपनी सारी मानसिक शक्ति इकट्ठी कर ली।

सौभाग्य से चाँद मंद चमक रहा था क्योंकि आकाश में बादल थे और मेरे शरीर के लिए केवल यही एकमात्र आवरण था!

गुरु जी: ठीक है रश्मि। अब आपको  अपनी चुत चार दिशाओं यानी पूर्व, पश्चिम, उत्तर और दक्षिण को दिखाने की जरूरत है। आपको प्रत्येक दिशा का प्रतिनिधित्व करने वाला एक व्यक्ति मिलेगा जिसे आपको अपनी चुत दिखाने की आवश्यकता है। वास्तव में ये चार दिशाएँ इस बात का संकेत करती हैं कि आप अपनी प्रार्थना सभी देवी-देवताओं तक पहुँचा रहे हैं और केवल लिंग महाराज तक ही सीमित नहीं रख रहे हैं।


[Image: pussy-show.webp]

मैं मेरी सहमति दे चूकी थी। मैं वास्तव में अब इसे खत्म करने और अपनाई को कवर के नीचे ले जाने के लिए उत्सुक थी। इतने सारे मर्दों के सामने नंगा खड़ा होना बहुत दर्दनाक होता जा रहा था।

गुरु जी: हे चन्द्रमा, हे लिंग महाराज! हे अग्नि! ...

ईमानदारी से कहूँ तो मैं पहली बार गुरु जी को सुन रही थी क्योंकि मैं अपनी नग्नता के बारे में बहुत सचेत थी और उत्सुकता से इस प्रकरण के अंत की प्रतीक्षा कर रही थी।
Reply


Possibly Related Threads…
Thread Author Replies Views Last Post
  Adultery PYAAR KI BHOOKH ( COMPLETE) sexstories 485 14,705 07-17-2024, 01:32 PM
Last Post: sexstories
  Adultery Laa-Waaris .... Adult + Action +Thrill (Completed) sexstories 101 13,312 07-12-2024, 01:47 PM
Last Post: sexstories
  Indian Sex Kahani Kuch Rang Zindagi Ke Aise Bhi sexstories 66 15,072 07-10-2024, 02:25 PM
Last Post: sexstories
  Incest Sex Kahani Haseen pal sexstories 130 40,824 07-10-2024, 01:40 PM
Last Post: sexstories
  Incest Apne he Bete se pyar ho gya (Completed) sexstories 27 40,103 07-06-2024, 11:34 AM
Last Post: sexstories
  Dark Seduction (Indian Male Dominant BDSM Thriller) sexstories 21 9,200 07-06-2024, 11:23 AM
Last Post: sexstories
  Incest Harami beta Shareef maa (Completed) sexstories 19 31,768 07-05-2024, 01:32 PM
Last Post: sexstories
  Incest Kahani - Bhaiya ka Khayal mein rakhoon gi sexstories 145 24,000 07-05-2024, 12:53 PM
Last Post: sexstories
  Hindi Porn Stories बदनसीब फुलवा; एक बेकसूर रण्डी sexstories 73 41,871 07-05-2024, 12:36 PM
Last Post: sexstories
  Thriller Safar ek rahsya (secret of journey)~ Completed sexstories 58 10,009 07-04-2024, 02:18 PM
Last Post: sexstories



Users browsing this thread: 4 Guest(s)