Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा
07-28-2020, 11:43 AM,
#11
RE: Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा
(रमन गेम खेलने लगता है, रिंकी पढ़ाई करती है, तभी कामना कमरे में आती है और रिंकी और रमन को कोल्ड्रिंक देती है, कामना रिंकी के छोटे कपडे देखती है, रिंकी की गुलाबी ब्रा की स्ट्रिप उसके टॉप से साफ दिखाई दे रही थी और, पेंटी भी दिखाई दे रही थी, कामना रिंकी को डाँटते हुए पूछती है)
कामना- ये क्या है रिंकी, कैसे कपडे पहने है, आजकल के बच्चों को पता नहीं क्या हो गया, कौन लाया ये तेरे लिए, इतने छोटे कपडे हमारी संस्कृति में नहीं पहनते.
रिंकी- माँ… आप भी ना पुराने जमाने की औरत हो, मैं अपनी दोस्त सुरभि के साथ बाजार से लायी ये सब, उसने भी अपने लिए खरीदे ऐसे कपडे, आजकल सब यही पहनते हैं.
कामना- सूट सलवार पहना कर, ये सब अच्छा नहीं है, कल से ऐसे नहीं दिखनी चाहिए तू, समझी??
रमन- अरे माँ, जाने दो, जमाना बदल गया है, आजकल सभी ऐसे ही कपडे पहनते हैं, मेरे कॉलेज में भी सब लड़कियां छोटे छोटे कपडे पहनती है.
कामना- तू चुप कर, क्या खेल रहा है तू कंप्यूटर में, कभी अपनी माँ को भी कंप्यूटर चलाना सीखा दे.
रमन- आज सीख लो, आ जाओ.
(वहां केवल 1 ही कुर्सी थी तो रमन उठने लगा)
कामना- अरे बैठे रह तू, तेरी गोद में बैठ जाऊंगी, ट्रेन में भी तो ऐसे ही बैठी थी.
रिंकी- हा हा हा, माँ आप क्या भैया की गोद में बैठकर आई, भैया तो पिचक गए होंगे.
कामना- तू पढ़ाई में ध्यान लगा, ज्यादा शैतानी मत कर.
(कामना रमन की गोद में बैठ जाती है, कामना ने नाईटी के अंदर कुछ नहीं पहना था, उसका पूरा नंगा बदन वैसे ही नाईटी के बाहर से दिख रहा था, और अब वो रमन की गोद में बैठ गयी थी..
रमन ने पैजामा पहना हुआ था, जिसके अंदर उसने कच्छा नहीं पहना था, ऊपर केवल बनियान डाली हुयी थी, जिसमे उसके छाती के बड़े बड़े बाल दिखाई दे रहे थे, रमन का लण्ड अपनी माँ की गांड के स्पर्श से खड़ा हो गया और कामना की गांड में झटके मारने लगा जिसका अहसास कामना को हो रहा था)
कामना- सीधे बैठे रह, ऐसे हिल मत.
रमन- माँ मैं कहाँ हिल रहा हूँ.
कामना- तो कौन हिल रहा है फिर?
रमन- छोड़ो अब, मैं आपको एक गेम खिलाता हूँ.
(रमन कामना को गेम लगा कर देता है, कामना को गेम खेलना नहीं आता, तो रमन खुद ही गेम खेलता है, उसकी गोद में उसकी माँ बैठी थी, अपनी माँ के बगल से हाथ बाहर निकालकर, अपनी छाती माँ की पीठ से सटाकर रमन गेम खेलता है और लण्ड से कामना की गांड में झटके भी देता है, कामना भी उछल रही थी और रमन का साथ दे रही थी, रिंकी ये सब देखे जा रही थी)
रिंकी- माँ-भैया आप ऐसे उछल क्यों रहे हो.
कामना- ये रमन उछल रहा है गेम खेलकर और मुझे भी उछाल रहा है.
रमन- गेम ही इतना खतरनाक है माँ, कहीं आउट न हो जाऊं इसलिए उछल रहा हूँ.
(और ऐसे ही उछलते उछलते झटके मारते मारते रमन गेम में तो आउट हो ही जाता है लेकिन असली गेम में भी आउट हो जाता है और उसका सफेद वीर्य पैजामे में निकल जाता है जिसका साफ साफ गीलापन दिखाई दे रहा था और बदबू भी आ रही थी, कुछ वीर्य का गीलापन कामना की नाईटी में भी लग जाता है)
रमन- अह्ह्ह्ह…. ओह माँ… आउट हो गया मैं तो… अह्ह्ह्ह्ह..
कामना- इतनी जल्दी आउट हो गया, क्या होगा तेरा.
(और कामना हँसते हुए रमन की गोद से खड़ी हो जाती है और रमन के पैजामे में लण्ड की तरफ देखकर मुस्कान देती है और कमरे से बाहर चली जाती है, कामना और रमन दोनों एक दूसरे के इरादों को भांप लेते हैं लेकिन अभी भी कहीं न कहीं दोनों के बीच में माँ-बेटे के रिश्ते की शर्म थी इसलिए दोनों खुल नहीं पा रहे थे लेकिन अनऔपचारिक रूप से दोनों मजे ले रहे थे..
कामना के बाहर जाते ही रिंकी सीधे दौड़ी दौड़ी गेम खेलने के लिए रमन की गोद में बैठ जाती है, रमन का लण्ड अभी भी कड़क था और पूरा गीला था जो सीधा रिंकी के नेकर में गांड में घुसता है और रिंकी को झटका लगता है)
रिंकी- उईई माँ, आऊच…. ये क्या है भैया, आपने तो सुसु कर दिया पैजामे में, गीला हो रखा है.
रमन- सुसु नही है बहना, ये तो पसीना है, जब ज्यादा गर्मी लगती है तो अपनेआप निकल आता है, तू बैठ जा आजा, भैया की गोद में बैठ जा.
रिंकी- और ये खड़ी कैसे हुयी है आपकी नुन्नू?
रमन- बहना, तू कितनी भोली है, तुझे सब समझाना पड़ता है, ये नुन्नू जब किसी सुन्दर लड़की को देखती है तो ऐसे ही खड़ी हो जाती है.
रिंकी- अच्छा ऐसा होता है, जैसे मैं सुन्दर हूँ, ये नुन्नू मुझे देखकर खड़ी हो गयी? स्कूल में तो फिर मुझे देखकर सब की नुन्नू खड़ी हो जाती होगी.
रमन- हाँ बहना तुझे देखकर खड़ी तो हो गयी लेकिन तुझ से पहले इस कमरे में एक और सुन्दर औरत थी, ये नुन्नू उसी ने खड़ी करी है.
रिंकी- माँ ने ?
रमन- हाँ बहना, माँ अभी मेरी गोद में बैठी थी ना, तब में उछल रहा था तो ये खड़ी हो गयी, आजा अब तू भैया की गोद में बैठकर गेम खेल, तेरे बैठने से कुछ देर बाद ये खुद ब खुद बैठ जायेगी.
रिंकी- ठीक है भैया, मैं बैठ जाती हूँ आपकी गोद में.
Reply Report

07-28-2020, 11:43 AM,
#12
RE: Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा
(रिंकी रमन की गोद में बैठती है लेकिन उसकी गांड में अभी भी रमन का लण्ड चुभ रहा था)
रिंकी- भैया ये चुभ रही है, आपने तो कहा था ये बैठ जायेगी, लेकिन ये तो बहुत ज्यादा टाइट हो गयी, प्लीज भैया इसे बैठाओ आप किसी भी तरह.
रमन- तू गेम खेलते रह, थोड़ी देर में बैठ जायेगी, जैसे मैं माँ को गोद में बैठाकर उछल रहा था वैसे ही उछलना पड़ेगा, तुझे परेशानी तो नहीं होगी ?
रिंकी- नहीं भैया, आप उछल लो, कोई परेशानी नहीं होगी.
(फिर रमन धीरे धीरे अपना लण्ड रिंकी की गांड में रगड़ने लगता है, रिंकी रमन की गोद में बैठकर गेम खेल रही थी)
रमन- बहना तू कितनी गोरी है, और तेरी ब्रा तेरे कन्धों पर दिख रही है बहना जो मैं तेरे लिए लाया था, तूने सही से नहीं पहनी, तभी माँ को तेरी ब्रा और पेंटी दिख गयी.
रिंकी- भैया अभी मुझे पहनना नहीं आया, धीरे धीरे सिख जाउंगी.
रमन- बहना तू बहुत मस्त है सही में, सेक्सी है.
रिंकी- भाई चुप कर, फिर शुरू हो गया, मुझे ऐसे शब्द अच्छे नही लगते, मेने पहले भी कहा था.
रमन- लेकिन जब तू परी जैसे लग रही है तो मैं बोलूंगा ही, अच्छा एक बात पूछूँ?
रिंकी- हाँ पूछो भैया.
रमन- तेरे गले में एक तिल है, उसमे मुझे किस करने का मन है कर लूँ?
रिंकी- ये भी कोई पूछने की बात है भैया, आप मेरे बड़े भैया हो, अपनी बहन को किस कर सकते हो आप.
रमन- थैंक यू बेबी, आई लव यू.
रिंकी- आई लव यू टू भैया.

(भोली भाली ** साल की पतली दुबली, गोरी चिट्टी, कच्ची कली रमन की बहन रिंकी को रमन के इरादों के बारे में पता नहीं था, उसे लगा उसका भाई उसे बहन की तरह प्यार करेगा, लेकिन रमन ने अपनी लंबी जीभ जब रिंकी के गले में फेरी तो रिंकी सिहर गयी)
रिंकी- अह्ह्ह्ह्ह ये क्या कर रहे हो भैया, आपने तो किस के लिए कहा, और आप मेरा गला चाट रहे हो.
रमन- बहना किस करने से पहले ऐसा ही करते हैं, तुझे अच्छा नहीं लगा क्या?
रिंकी- मजा आया बहुत लेकिन अजीब सा अहसास हुआ भैया पता नहीं क्यों.
रमन- तेरी उम्र में हर लड़की को ऐसा ही अहसास होता है बहना, तू गेम खेलते रह.
रिंकी- ठीक है भैया, ऐसे ही चाटना बहुत मजा आया.
(और रमन अपनी जीभ रिंकी के कान से लेकर गले से और फिर कंधे में फेरता हैं, अब रिंकी की चूत में भी पानी आने लगता है, और रिंकी को बहुत मजा आने लगता है, और रिंकी सिसकारी भरने लगती है)
रिंकी- अह्ह्ह्ह अहो हो भैया, मजा आ रहा है, अह्ह्ह्ह… ऐसा क्यों हो रहा है भैया, मुझे कुछ कुछ हो रहा है भैया. ऐसे ही करो प्लीज भैया.
रमन- तू ज्यादा आवाज़ मत निकाल मेरी सेक्सी बहना, वरना माँ आ जायेगी, तू चुपचाप गेम खेल, मैं तुझे और मजे देता हूँ.
(फिर रमन रिंकी के गले में जोरदार किस करता है और काटता भी है जिससे रिंकी चिल्लाती है और उसकी आवाज कामना के कमरे तक चली जाती है)
रिंकी- आउच… अह्ह्ह्ह… आराम से भैया.
रमन- शहह्ह्ह्ह्ह… ज्यादा आवाज़ नहीं, माँ आ जायेगी.
(तभी कामना उनके कमरे में आती है और रिंकी को रमन की गोद में देखकर चौंक जाती है)
कामना- क्या कर रहे हो तुम दोनों, इतनी आवाजें क्यों निकाल रही है रिंकी तू, क्या कर रहा था रमन?
रमन- कुछ नहीं माँ, रिंकी गेम खेल रही थी तो आउट हो गयी…
रिंकी- हां और मेरे आउट होने पर भैया ने मेरे गले में काट दिया, हा हा हा
कामना- रिंकी ये अच्छी बात नहीं है, भैया की गोद में ऐसे नहीं बैठते, जाओ अपने बेड पर.
रिंकी- क्यों, आप भी तो बैठे थे, मैं क्यों नही बैठ सकती.
कामना- तू मानेगी नहीं मतलब, शैतान लड़की…
रमन- माँ, बैठे रहने दो उसे, उसका मन है, गेम खेलकर उठ जायेगी, आप अपने कमरे में जाओ.
कामना- माँ की बात नहीं मान रहे हो तुम दोनों, तुम्हारे जो मन में वो करो, और सुन रमन आज मेरे कमरे में ही सोना, तेरे कमरे का पंखा ख़राब है, और जल्दी सोने आ जाना.
रमन- ठीक है माँ, मैं आता हूँ.
(कामना चली जाती है और रमन की जान में जान आती है और रिंकी और रमन दोनों हंसने लगते हैं)
रिंकी- कैसे चिल्ला रही थी चुड़ैल की तरह हा हा हा.
रमन- रिंकी ऐसे नहीं बोलते माँ को.
रिंकी- मैं तो बोलूंगी, चुड़ैल, चुड़ैल चुड़ैल…
रमन- रुक तू, ऐसे नहीं मानेगी.
(और रमन रिंकी को कस कर पकड़कर बेड में पटक देता है, और दोनों की कुश्ती शुरू हो जाती है, रिंकी भी रमन को मारने में कोई कसर नहीं छोड़ती, जब रमन रिंकी पर भारी पड़ जाता है तो रिंकी रमन का लण्ड पकड़ लेती है)
Reply Report
07-28-2020, 11:43 AM,
#13
RE: Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा
रमन- रिंकी इसे छोड़, प्लीज इसे मत पकड़, बहुत दर्द होता है अह्ह्ह्ह….
रिंकी- नहीं छोड़ूंगा, बहुत हीरो बन रहे थे, अब बोलो, अब बोलो, दबा दूँ? चटनी बना दूँ इसकी? बताओ?
रमन- रिंकी देख छोड़, मैं माँ को बुला दूंगा वरना.
रिंकी- पहले सॉरी बोलो.
रमन- सॉरी, सॉरी, सॉरी, प्लीज अब छोड़ जल्दी.
(रिंकी रमन का लण्ड छोड़ देती है, रमन को गुस्सा आता है उसे बहुत दर्द हो रहा था, वो गुस्से में रिंकी को पकड़ता है और कस कर उसके हाथ उसके पीछे बांध देता है और उससे चिपक कर बेड में लेट जाता है, अब रिंकी की चूत के ठीक ऊपर रमन का खड़ा लण्ड झटके मार रहा था, रिंकी की डर से तेज साँसे रमन की साँसों से टकरा रही थीं, रमन की छाती से रिंकी की छाती दबी थी और रमन की छाती में रिंकी के निप्प्ल्स चुभ रहे थे)
रिंकी- भैया, छोडो प्लीज, अब नहीं करूंगी.
रमन- अब कैसे करेगी, अब तो तू मेरी जकड में जो है, ऐसे दबाते हैं नुन्नी को बता? क्यों दबाया इतनी तेज.
रिंकी- आपकी नुन्नी खड़ी थी, मुझे गुस्सा आ गया, आपने बोला था की वो बैठ जायेगी, तो मेने सोचा मैं पिचोड़ दूंगी तो क्या पता आपकी नुन्नी बैठ जाये.
रमन- तो पहले बताती, मैं तुझे पिचोड़ने को दे देता, अब पिछोड़ेगी क्या?
रिंकी- हाँ, पिछोडूँ क्या?
रमन- लेकिन जैसे मैं बताऊंगा वैसे पिछोड़ना, हलके हलके, ठीक है?
रिंकी- हाँ लेकिन अब मेरी कलाई छोडो, और मेरे ऊपर से हटो, कितने भारी हो आप.
(रमन अपनी बहन की नाजुक कलाई छोड़ देता है और अपना पैजामा उसके सामने खोल देता है, रमन का 6 इंच का खड़ा लण्ड देखकर रिंकी घबरा जाती है और शर्म से अपने मुह में हाथ रख लेती है और चौंक जाती है)
रिंकी- भैया ये तो नुन्ना है, कितना बड़ा नुन्ना है ये.
रमन- बहन आज तुझे एक बात बता रहा हूँ लेकिन तू प्रोमिस कर कि किसी को ये बात नहीं बताएगी.
रिंकी- प्रॉमिस भैया.

रमन- इसे नुन्नी या नुन्ना नहीं बोलते.
रिंकी- तो फिर क्या बोलते हैं भैया?
रमन- इसे लण्ड बोलते हैं, या लोडा भी बोल सकती है तू.
(रिंकी हंसने लगती है)
रिंकी- लण्ड, हा हा हा ये कैसा नाम है लण्ड…
रमन- धीरे बोल, वरना माँ आ जायेगी. चल तूने कहा था इसे पिछोड़ेगी, अब हलके हलके पिचोड़ इसे और आगे पीछे भी करना, जब मैं कहूँ तेज कर तो तेज करना, और जब मैं कहूँ धीरे तो आहिस्ता आहिस्ता हाथ चलना समझी?
रिंकी- समझ गयी भैया, पास आओ..
(और रिंकी रमन के लण्ड में अपने दोनों हाथ चलाती है और अपने भाई का मुठ मारने लगती है, रमन के आदेशानुसार रिंकी उसके लण्ड को पिछोड़ती है, आगे पीछे करती है)
रमन- अह्ह्ह्ह… बहन अह्ह्ह्ह…. उफ्फ्फ्फ तेरे हाथों में जादू है बहना, ऐसे ही तेज तेज कर जितनी तुझ पर जान है बहना, अह्ह्ह्ह्ह अह्ह्ह्हह….
थोड़ी देर बाद इसमें से बटर निकलेगा अह्ह्ह्ह्ह…
रिंकी- कौन सा बटर भैया, जो हम खाते हैं, अमूल का?
रमन- हा हा हा अह्ह्ह्ह… हाँ वो ही समझ ले, अह्ह्ह्ह… उसमे ताकत होती है, उसे फेकते नहीं है, उसे खाते हैं.
रिंकी- तो भैया मैं खा लुंगी बटर, आप चिंता मत करो, बटर बर्बाद नहीं होगा.
रमन- अगर तुझे खाना है तो ऐसा कर, मेरा लण्ड अपने मुह में डाल ले और वैसे ही आगे पीछे कर जैसे हाथ से कर रही थी, जल्दी, अह्ह्ह्ह…
रिंकी- ओके भैया.
(और रिंकी रमन का लण्ड अब मुह में डाल देती है और आगे पीछे करने लगती है. रमन का मजा सातवें आसमान में पहुच जाता है, एक *** साल की गोरी पतली, सेक्सी, हॉट, कामुक लड़की के मुह में रमन के लण्ड का मुत्थारोपन हो रहा था, रमन सिसकारी भरता है)
रमन- बहन, मक्खन आने वाला है, तेज तेज चूस बहन अह्ह्ह्ह्ह, ओह्ह्ह्ह्ह गया, उम्म्म्म्म्म्म्म… बहन तू सही में रानी है, अह्ह्ह्ह… मैं आया बहन, मक्खन आया बहन, अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह…
(और रमन सारा माल रिंकी के मुह के अंदर छोड़ देता है और रिंकी सारा माल पी जाती है, और फिर रमन रिंकी के होंठ पर अपने होंठ रख देता है और किस करने लगता है, दोनों भाई बहन किस करने में मशगूल हो जाते हैं, फिर किस करते करते रमन रिंकी का टॉप उतार देता है और अब रिंकी केवल नेकर और गुलाबी ब्रा में थी..
फिर रमन रिंकी का ब्रा भी उसके पतले, कच्ची जवानी वाले बदन से अलग कर देता है, और रिंकी के बूब्स जो अभी अभी जवान हुए थे उसके भाई के सामने नग्न थे और रिंकी ने शर्म से अपने बूब्स हाथों से ढक लिए, रमन ने रिंकी के हाथों को हटाया और रिंकी के अधपके गुठली वाले बूब्स अपने मुह में भर लिए और उन पर टूट पड़ा, निप्पल चूसने लगा, रिंकी सिसकारी भरने लगी)
रिंकी- भैया, मुझे अजीब सा फील हो रहा है, ऐसा क्यों हो रहा है भैया, अह्ह्ह्ह्ह मजा आ रहा है बहुत, ऐसे ही चूसो भैया, अह्ह्ह्ह… अह्ह्ह्ह्ह्ह… उईईईईई…. उम्म्म्म्म्म्म्म….. गयीईई… अह्ह्हह्ह्ह्ह भैयाआआह्ह्ह्ह…. चूसो और तेज चूसो, खा जाओ भैया अह्ह्ह…
(रिंकी अपने जीवन में पहली जवानी में पहली बार गरम हुयी थी और सेक्स चढ़ना स्वाभाविक बात थी, जलती जवानी की आग में रमन की *** साल की बहिन रिंकी की कामुकता से भरी सिसकारी पुरे घर में गूंजने लगी, रमन रिंकी के बूब्स खाये जा रहा था..
उसके बाद रमन रिंकी की नाभि और पेट को चाटने लगा, रिंकी मदहोशी में डूब गयी, वो दूसरी दुनिया में थी, उसे कुछ होश नहीं था, जवानी की आग में वो जल गयी, और इस आग में घी उसका अपना भाई रमन डाल रहा था, फिर रमन ने रिंकी का नेकर उसके बदन से अलग किया और उसकी जालीदार पेंटी भी अलग कर दी, अब रिंकी ऊपर से नीचे तक बिलकुल नंगी थी.
** साल का कसा हुआ पतला, गोरा जिस्म, पतली कमर, मोटी गोरी जांघें बहुत ही कामुक लग रही थी, अब रिंकी के शरीर में केवल उसकी टांगों में काले धागे बंधे थे, बाकि पूरा शरीर नंगा था. रिंकी सेक्स से पागल हुए जा रही थी..
रमन ने देखा कि रिंकी की चूत से बहुत सारा पानी निकल रहा है, रिंकी की चूत में हलके हलके रेशमी बाल थे, छोटी सी फूली हुयी गुलाबी चूत बहुत ही टाइट और बिलकुल नयी लग रही थी, अब रमन ने चूत में जीभ फेरना शुरू किया तो रिंकी तो पागल ही हो गयी)
रिंकी- अह्ह्ह्हह….. शहह्ह्ह्ह्ह… उईईईईई….मम्मी मर गयी, ये क्या अह्ह्ह… कर रहे हो भैयाआआह्ह्ह्ह्ह्ह्…. ये जादू है अह्ह्ह्ह….. भैया मजा आह्ह्ह्ह… रहा अह्ह्ह.. है, ऐसे ही चाटो अह्ह्ह्ह…. उम्म्म्म्म….
(रमन जीभ से रिंकी की चूत चोद देता है और उसकी सील तोड़ देता है और रिंकी की चूत से खून निकलता है जो रमन के मुह में लग जाता है, रिंकी खून देखकर डर जाती है लेकिन रमन उसे इसके बारे में समझता है तो रिंकी शांत हो जाती है)
रमन- बहन आज तेरी सील टूट गयी, अब तू वर्जिन नहीं है बहन, तेरी चूत लण्ड लेने लायक हो गयी है.
रिंकी- अह्ह्ह्ह… भैया बहुत मजा आया, लण्ड लेने लायक मतलब? इसमें अब लण्ड डालेंगे, और मक्खन भी?
रमन- मक्खन नहीं बहन, सिर्फ लण्ड डालेंगे क्यों कि मक्खन से तुझे बच्चा हो जायेगा.

रिंकी- अच्छा मक्खन से बच्चा भी होता है क्या? मतलब आप और मैं मक्खन से हुए है?
रमन- हाँ बहन, पापा ने मक्खन माँ की चूत में डाला था तो हम दोनों हुए. चल अब मैं तेरी चूत में अपना लण्ड डालूँगा, पहले पहले दर्द होगा, बाद में तुझे बहुत मजा आयेगा, ठीक है बहना?
रिंकी- हाँ भैया डालो. जल्दी डालो, अह्ह्ह्ह…
(फिर रमन रिंकी की चूत में लण्ड सेट करता है और हल्के हल्के उसे अंदर डालने की कोशिश करता है, रिंकी की दर्द से चीख निकलती है लेकिन वो सहन करती है..
Reply Report
07-28-2020, 11:43 AM,
#14
RE: Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा
फिर रमन पूरा लण्ड रिंकी की चूत में डाल देता है और रिंकी के दर्द से आंसू निकल जाते हैं और रमन अपने होंठ रिंकी के होंठों पर रख देता है और चूसने लगता है, रिंकी भी अपने भाई के होंठ चूसती है.
फिर रमन लण्ड अंदर बाहर करने लगता है, और रिंकी की जीभ से जीभ मिलाने लगता है, भाई बहन की अपवित्र चुदाई शुरू होती है, लण्ड चूत का मिलाप होता है, रिंकी-रमन दो जिस्म एक जान बनकर रह जाते हैं, दोनों बिलकुल नंगे बेड पर चुदाई कर रहे थे, अंततः रमन भूल और मजे में अपना सारा वीर्य रिंकी की योनि के अंदर ही छोड़ देता है और रिंकी भी साथ ही साथ अपना पानी छोड़ देती है.
दोनों एक दूसरे को कस कर पकड़ते हैं और ऐसे ही चिपके रहते हैं, रिंकी को आज चुदाई का ज्ञान हो गया था, अब वो बाहर किसी से भी चुदने को तैयार हो गयी थी लेकिन रमन का वीर्य उसकी योनि में समा गया था जिसके कारण दोनों डर गए थे)

(फिर दोनों अपने कपडे पहनते हैं और रिंकी सो जाती है और रमन अपनी माँ के कमरे में सोने चला जाता है जहाँ नाईट बल्ब जला था, उसकी माँ बेड पर लेटी थी और उसकी माँ कामना की नाईटी उसकी मोटी सुडौल गोरी झांघों तक सरक गयी थी, 90 प्रतिशत गोरे भारी तरबुझ जैसे बूब्स नाईटी से बाहर थे, बाल बिखरे हुए थे, आधे से ज्यादा निप्पल दिख रहे थे, ये दृश्य देखकर रमन का मन और लन दोनो डोल जाते हैं )
रमन का लण्ड अपनी माँ की ये मदहोशी में सोयी हुयी हालत को देखकर खड़ा हो जाता है, और रमन घूर घूर कर अपनी माँ के आधे से ज्यादा बूब्स को और मोटी गोरी मखमली बालों से भरी जांघों को एकटक देखता रहता है और अपना लण्ड पैजामे के बाहर से ही मसलता है, थोड़ी देर पश्चात रमन कामना के बगल में खड़े लण्ड के साथ लेट जाता है.
रमन के अपनी माँ के बगल में लेटने से कामना की नींद खुल जाती है और वो अपनी नाईटी सही करती है, निकले हुए बूब्स को संभालती है, माँ-बेटे के रिश्ते को व्यवस्थित रखने की पूरी कोशिश करती है)
(कामना और रमन एक दूसरे की तरफ मुह करके बातें करने लगते हैं, कामना के 50 प्रतिशत बूब्स अभी भी बाहर ही थे और सांसों के साथ ऊपर नीचे हो रहे थे, छोटा बेड होने की वजह से कामना और रमन पास पास एक दूसरे की तरफ मुह करके बात कर रहे थे, माँ-बेटे की सांसे एक दूसरे से टकरा रही थी)
कामना- आ गया बेटा, इतनी देर क्यों करी? कितना गेम खेलते हो तुम दोनों भाई बहन.
रमन- हाँ माँ वो थोडा देर हो गयी, आप तो गहरी नींद में सोये हुए थे.
कामना- हाँ वो नींद आ गयी थी, चल अब तू भी सोजा, इतनी बदबू क्यों आ रही है तुझ से, तू नहाया नही क्या ट्रेन में जो हुआ उसके बाद ?
रमन- नहाया था माँ, लेकिन ट्रेन में इतना सारा पता नही किसने डाला, उसकी बदबू शायद अभी तक है.
कामना- कंजर हरामी लोग थे ट्रेन में, मुझे पहले से पता था, शक्ल ही कमीनों वाली थी उनकी, बेशर्म कहीं के.
रमन- हाँ माँ, सही बोल रही है तू. वैसे एक बात पूछूँ?
कामना- पूछ बेटा.
रमन- आपको मजा आया सफ़र में?
कामना- हाँ बेटा बहुत मजा आया था, क्या बताऊँ, उन अंकल ने जो मुझे सीट दी बैठने को उसके बाद ज्यादा मजा आया.
रमन- वैसे जब आखिरी सुरंग आई थी तो उन अंकल की और आपकी अजीब अजीब सी आवाज़ें आ रही थी, ऐसा क्यों माँ?
कामना- अरे उस समय पता नहीं चूहा जैसे कुछ घुस गया था मेरे पेटिकोट के अंदर, उसने तूफ़ान मचा दिया था बेटा, अगर मैं हल्ला करती तो सब डर जाते कहीं ट्रेन में बम तो नहीं है, लेकिन मेने हिम्मत से काम लिया और चूहे के जाने का इंतज़ार किया, सुरंग खत्म होने के बाद चूहा चला गया.
रमन- वाह माँ, कितनी बहादुर हो आप, शेरनी हो.
कामना- वो तो हूँ ही बचपन से, लेकिन आजतक घमंड नहीं किया बेटा.
रमन- माँ जब आप रिंकी के रुम में मेरी गोद में बैठी थी तो बहुत मजा आ रहा था.
कामना- मजा कैसे आ रहा था तुझे? मैं समझी नहीं?
रमन- मतलब एक अलग अहसास हो रहा था, मेरा शरीर थका हुआ है ना, तो आप मोटी हो, मेरी जांघों के ऊपर आप बैठी थी तो मसाज हो गयी थी.
कामना- अच्छा जी, ऐसा है, अभी तेरे ऊपर लेट जाऊं क्या? पूरी बॉडी की मसाज हो जायेगी.
रमन- अगर ऐसा हो जाये तो सोने पे सुहागा हो जाये माँ.
कामना- चल हट… बदमाश, मैं तो मजाक कर रही हूँ.
रमन- आप भी ना माँ, ऐसा अच्छा मजाक करती हो. वैसे आप कितनी ज्यादा मोटी हो सही में, आपके दूध भी काफी बड़े हैं माँ.
कामना- बदमाश मेरे दूध देखता रहता है तू हाँ, बचपन में इन्ही को चूसता रहता था तू.
रमन- मैं इतने बड़े टैंकर से खत्म कर देता था क्या दूध?
Reply Report
07-28-2020, 11:43 AM,
#15
RE: Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा
कामना- और नहीं तो क्या, चुस चूस कर लाल कर देता था निप्पल, जब नहीं पिलाती थी तो रो रो कर बुरा हाल कर देता था, बड़ा शैतान था बचपन से, जब तू बड़ा हुआ तब थोड़ा मेरी चुच्चियों को आराम मिला बेटा.
रमन- माँ इतनी बड़ी चुच्ची को किसी का भी मन चूसने का करेगा, अभी भी देखो बाहर दिख रही है, आप जब भी मार्किट या कहीं भी जाती हो आपकी चुच्चियां आधी बाहर दिखती हैं माँ, सब लोग आपकी चुच्चियों को घूरते रहते हैं.
कामना- तो क्या हुआ, चुच्चियां तो औरतों की शान होती है, जितनी बड़ी चुच्ची मतलब उतने ही अच्छे घर से है.
रमन- मेरे छोड़ने के बाद किसी ने आपकी चुच्ची चूसी माँ?
कामना- ये कैसा गन्दा सवाल कर रहा है बदमाश, (शरमाते हुए)- हाँ तेरे पापा चूसते हैं जब छुट्टी में आते हैं घर.
रमन- मुझे तो अभी भी आपकी चुच्ची चूसने का मन होता है माँ.
कामना- तुझे तो मैं कभी न चुसाऊं अपनी चुच्ची, बचपन में छोड़ता नहीं था, अब तो बड़ा हो गया है अब तो बिलकुल भी नहीं छोड़ेगा.
रमन- नहीं माँ अब मैं कम चुसुंगा, पिला दो प्लीज…

(कामना रमन की छाती में बालों में हाथ फेरती है)
कामना- तेरी छाती में कितने बाल है बाप रे, इतने तो सर में होते हैं, कहाँ तक फैलें हैं ये?
रमन- पेट से भी नीचे तक माँ, रुको मैं बनियान उतरता हूँ, अब देखो.
कामना- बाप रे इतने बाल हैं पेट तक.
रमन- माँ पेट से भी नीचे तक घने बाल हैं टांगों में खत्म होते हैं सीधे.
(कामना चौंकते हुए अपने बेटे की चौड़ी छाती के बाल देखती है, पेट से छाती तक बालों में हाथ फेरती है, कामना की नजर रमन के पैजामे में खड़े झटके मारते हुए लण्ड पर भी जाती है, और कामना हंसने लगती है)
कामना- अब बड़ा हो गया तू, गबरू जवान. कोई गर्लफ्रेंड है क्या कॉलेज में?
रमन- नहीं माँ अभी नहीं, मुझे कोई पसंद ही नहीं आती.
कामना- क्यों, कैसी लड़की पसंद है तुझे?
रमन- माँ आपके जैसी, मोटी सी, जिसकी चूचियाँ मोटी हों, जिनका दूध में रात भर पी सकूँ.
कामना- तेरे साथ जिसकी शादी होगी उसकी चुच्ची को चूस चूस कर पका देगा तू तो, बड़ा ही दीवाना है तू चुच्ची का.
रमन- हाँ माँ तभी तो आपकी चुच्ची चूसना चाहता हूँ. प्लीज चूसने दो.
कामना(रमन के सर पर हाथ फ़ेरते हुए)- माँ की चुच्ची चुसेगा? लेकिन ज्यादा मत चूसना बचपन की तरह ठीक है?
रमन- हाँ माँ, कम चुसुंगा. जल्दी दिखाओ चुच्ची प्लीज प्लीज प्लीज..
कामना- ज्यादा जोश में मत आ, जोश में होश मत खो देना तू.
(फिर कामना नाईटी के ऊपर से ही अपने दोनों बूब्स बाहर निकाल देती है जो अब रमन के सामने नंगे थे, सुर्ख काले रंग के खड़े निप्पल बड़े बड़े गोरे बूब्स में ठीक वैसे लग रहे थे जैसे अंग्रेजों के बीच में कोई नीग्रो)
कामना- आजा, चूस ले इन्हें.
(कामना के इतना कहते ही रमन बूब्स में भूखे शेर की तरह झपट जाता है और रगड़ रगड़ के निप्पल को चूसता है, कामना सिहर उठती है और अपने बूब्स को दबाते हुए जैसे उनसे दूध निकाल रही हो रमन को चुसवाती है)
कामना- अह्ह्ह… ठीक ऐसे ही चूसता था रमन तू इन्हें बचपन में, तूने पुरानी यादें ताज़ा करदी कसम से बेटे. अह्ह्ह्ह…
(रमन लगातार बूब्स को चूसता है, उसे काफी समय बाद इतने विशालकाय और गोरे बूब्स चूसने को मिले थे, एक पल भी वो इन्हें बिना चूसे व्यर्थ नही करना चाहता था इसलिए वो पागलों की तरह चूसे जा रहा था और कामना भी इसका फायदा उठा कर मजे ले रही थी, पैजामे में लगातार रमन का लण्ड झटके मार रहा था, और उसने ऊपर से भी कुछ नहीं पहना था, कामना रमन की छाती में हाथ फ़ेरने लगती है)
कामना- कितना भूखा है मेरा लाडला बेटा, पी ले बेटा दूध आज जितना भी पी सकता है, अह्ह्ह्ह… उम्म्म्म्म…
(आधा घंटा हो गया अब भवना को नींद आ रही थी लेकिन रमन चुच्चियां चूसे जा रहा था, रुकने का नाम नही ले रहा था, और कामना को नींद आ जाती है…
सुबह जब कामना उठती है तो देखती है रमन अभी भी उसके बूब्स चूस रहा है, और वो गुस्से से रमन को अलग करती है और देखती है उसके बूब्स के काले निप्पल में सूजन आ गयी थी और वो फूल कर बहुत मोटे दाने जैसे हो गए थे)
कामना- पागल लड़के, तू सोया नहीं क्या?
रमन- नहीं माँ, मैं निप्पल चूस रहा था, बहुत मजा आया, रात भर आपके निप्पल चूसे, इसमें से हल्का सा दूध भी आया.
कामना- उफ्फ्फ ये लड़का तो पागल है, इतना चूसेगा तो दूध तो निकलेगा ही, अब देख कितने मोटेे हो गए ये, डॉक्टर को दिखाना पड़ेगा अब.
इससे बढ़िया रोज़ थोडा थोडा चूसता, अब ऐसे ही बैठा रह तू.
रमन- सॉरी माँ, डॉक्टर को मत दिखाओ ऐसे ही सही हो जायेगा ये.
कामना- तू डॉक्टर है क्या?
रमन- मेने इंटरनेट में पढ़ा था इसके बारे में.
कामना- चल ठीक है, अब उठ जा तू, रिंकी तो स्कूल जायेगी अभी. उसके लिए लंच पैक कर देती हूँ, तब तक तू भी नाहा धो ले, बदबू फैला रखी है तूने कमरे में.
Reply Report
07-28-2020, 11:44 AM,
#16
RE: Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा
(रिंकी स्कूल चली जाती है, अब कामना और रमन घर में अकेले थे, आज कामना ने अलग टाइप की नाईटी पहनी जो रमन ने पहले कभी अपनी माँ को पहने हुए नहीं देखा था, कामना ने चिपले फिसलनदार कपडे की लाल रंग की बिना बाहों की नाईटी पहनी थी, जिसका गला बहुत ज्यादा खुला हुआ था, बैकलेस थी, और नीचे से भी स्कर्ट के जैसी झांघों से ऊपर तक थी, रमन की आँखें हवस से लाल हो गयी और वो आँखें फाड़ फाड़ कर अपनी माँ को देखे जा रहा था और कामुक ख्यालों में डूब गया)
कामना- अरे लाडले कहाँ खो गया?
रमन- तेरे ख्यालों में माँ, माँ आज तू बहुत ही खूबसूरत लग रही है, बिलकुल परी जैसे.
कामना- ओहो, आज तो माँ की तारीफ़ हाँ, इतनी मोटी हूँ, अगर पतली हो जाउंगी तो तेरे साथ कॉलेज जाउंगी, बच्चे मुझे तेरी माँ नहीं गर्लफ्रेंड समझने लगेंगे.

रमन- तो पतले हो जाओ आप, जिम जाया करो.
कामना- अच्छा मतलब मुझे गर्लफ्रेंड बनाएगा अपनी. ह्म्म्म्म.. शैतान है बहुत.
रमन- आप हो ही इतनी खूबसूरत, कोई भी आपको अपनी गर्लफ्रेंड बनाना चाहे. चुच्ची कैसी है अब आपकी, दर्द है क्या?
कामना- अब थोडा ठीक है, रात में चूस चूस कर तूने कचुम्मर निकाल दिया सही में. मेरी तो जान ही निकल गयी थी मानों.
(तब कामना किचन में काम करती है, और रमन उसे काम करते हुए देखता है, कामना को स्लीप से एक डब्बा निकालना था, कामना अपने पैर के पंजों के बल खड़ी होकर डब्बा निकालने की कोशिश करती है लेकिन लंबाई कम होने के कारण नहीं पहुच पाती..
लेकिन उसके पंजों के बल खड़े होने से उसकी नाईटी ऊपर होती है और उसकी गांड के बाल दिखने लगते हैं, कामना ने अंदर से न तो कच्छी पहनी थी और न ही ब्रा, रमन ये सब देखकर पागल हो जाता है और अपनी माँ की मदद के लिए दौड़ता है)
रमन- माँ, मैं कुछ मदद करूँ क्या?
कामना- हाँ जरा मुझे पकड़ कर उठा दे, वो डब्बा निकालना है.
रमन- ठीक है माँ.
(रमन कामना को पीछे से पकड़ता है और ऊपर उठाता है, फिर भी कामना डब्बे तक नहीं पहुच पाती, दरअसल डब्बा निकलना तो एक बहाना था, डब्बा इतने ऊपर था कि उसे निकालने के लिए स्टूल चहिये था, लेकिन ये सब कामना की सोची समझी रणनिति थी)
कामना- रमन थोडा और कोशिश कर बेटा, ऊपर उठा.
(रमन कोशिश करता है, कामना की नाईटी कमर तक सरक गयी थी, उसकी गांड नंगी थी, जब ऊपर उठाने के बाद कामना नीचे आ रही थी तो रमन का खड़ा लण्ड कामना की नंगी गांड को छू रहा था..
लेकिन कामना ने रमन को और कोशिश करने को बोला, अब रमन ने चुपके से अपना पैजामा उतार दिया, अब रमन केवल टी शर्ट में था और उसका नंगा लण्ड उसकी माँ की नंगी गांड में छू रहा था, वो बार बार अपनी माँ को ऊपर नीचे उठाने का नाटक करने लगा और लण्ड को गांड में घिसते रहा)
कामना- कोशिश करते रह निकल जायेगा बेटा… अह्ह्ह्ह…
रमन- हाँ माँ, अह्ह्ह्ह्ह… उम्म्म्म… कर रहा हूँ अह्ह्ह्ह…
(और रमन कामना की नंगी गांड में अपना गरम गरम वीर्य छोड़ देता है और कामना को भी वीर्य का अहसास होता है, और रमन कामना के पीछे उसे कस के पकड़ लेता है)
रमन- अह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्…. माँ, निकल गया अह्ह्ह्ह…
कामना- लेकिन मेरा नहीं निकला बेटा. मेरा भी निकाल दे. मैं तड़प रही हूँ कबसे.
(रमन कामना को अपनी तरफ सीधा करता है और उसके होंठ पर अपने होंठ रख देता है फिर जोरदार चुम्बन शुरू हो जाता है, जीभ से जीभ का मिलन, थूक से थूक का आदान प्रदान माँ बेटे के मुह से चलता है, दोनों मस्ती में चूर हो जाते हैं, सारी सिमाएं पार कर, सभी बंधनों को तोड़कर, सारे रिश्ते नाते भूल कर केवल पुरूष-महिला का रिश्ता ही समझते हुए एक दूसरे से चिपक जाते हैं और किस करते हैं..
उसके बाद रमन अपनी माँ की नाईटी उसके शरीर से अलग फेंक देता है, अब उसकी माँ उसकी आँखों के सामने बिलकुल नंगी थी, माथे पे लाल बिंदी, सर पर लाल सिंदूर, हाथों में चूड़ियाँ और पैरों में घुंघरू बांधे उसकी माँ नंगी अपने बेटे से चुदाई करवाने को बेकरार थी..
Reply Report
07-28-2020, 11:44 AM,
#17
RE: Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा

कामना की कमर पर एक सोने की चैन बंधी हुयी थी, जो उसके बदन की शोभा बढ़ा रही थी, रमन अपनी माँ के पुरे बदन को चूमे और चाटे जा रहा था, आज उसका इरादा कामना को खा जाने का था)
कामना- बेटा, अह्ह्ह्ह… अब सहन नहीं होता, डाल दे मगरमच्छ कीचड के अंदर, जल्दी कर बेटा, माँ को ऐसे ना तड़पा, अह्ह्ह्ह…. अह्ह्ह्ह…
रमन- आज तुझे जन्नत दिखाता हूँ माँ, तू फिक्र न कर, तेरा बेटा तुझे संतुष्ट कर देगा.
(और रमन अपना लण्ड अपनी माँ की चूत में लगाता है, और जोर लगा के हाइन्सा कर धक्के मारता है, माँ-बेटा चुदाई आरम्भ हो जाती है, कामना की सिसकारियाँ गालियों के साथ शुरू हो जाती हैं)
कामना- अह्ह्हह्ह्ह्ह… आह्ह्ह्ह्ह्… ऐसे ही जान, मेरे बेटे, हरामी, चोद अपनी माँ को और मादरचोद की उपाधि ले भोसडीके…अह्ह्ह्ह…
रमन- मेरी जान, मेरी रानी माँ, अह्ह्ह्ह… रंडी नंबर एक, आज फाड़ दूंगा तेरी चूत चिनाल… अह्ह्ह्ह्ह…
कामना- बहिनचोद, रंडवे, फाड़ अह्ह्ह.. के दिखा अह्ह्ह.. उम्म्म… अगर गांड में दम है तो अह्ह्ह.. ओहोह्ह्ह्ह्ह्… गयी मम्मी मैं तो अह्ह्ह्ह… चोद चोद अह्ह्ह…
(रमन अपनी रफ़्तार गतिमान एक्सप्रेस से भी तेज़ कर देता है और रफ़्तार के साथ और आवाज़ के साथ अपनी माँ की चूत में धक्के लगता है, फच फच की आवाज पुरे किचन में गूंजती है, साथ ही साथ कामना की चूड़ियों और घुँगरू की आवाज़ भी कामुक माहौल में एक समा बाँध देती है और रमन का जोश दोगुना करती है)
कामना- हाँ बस ऐसे ही, अह्ह्ह्ह्ह…. मेरे राजा, अह्ह्ह्ह… मेरे स्वामी… अह्ह्हहह… उम्म्म्म्म्म…. ओहोह्ह्ह्ह्…. ऐसे ही चोदो, यही रफ़्तार, यही जोश अह्हहाआआ….
रमन- मैं झड़ने वाला हूँ माँ…. अह्ह्ह्ह्ह….
कामना- मेरी चूत के अंदर ही डाल बेटा, अह्ह्ह्ह्ह माँ बना दे मुझे अपने बच्चे की, भर दे मेरी कोख एक बार फिर, डाल दे अपना बीज मेरी चूत में, अह्ह्ह्ह…. मैं भी झड़ने वाली हूँ बेटा अह्ह्ह्ह्ह्ह….. रमन डार्लिंग अह्ह्ह्ह…

(अपनी माँ के मुह से ये सब सुनकर रमन का जोश और बढ़ जाता है और चुदाई करते करते वो अपनी माँ की चूत के अंदर ही वीर्यपात कर देता है और कामना और रमन दोनो एक साथ झड़ते हैं और दोनों बिल्कुल कस कर एक दूसरे से चिपक जाते हैं, बाद में 69 मुद्रा में दोनों एक दूसरे की चूत और लण्ड चूसते हैं और एक बार और चुदाई करते हैं)
9 महीने बाद जब रिंकी और कामना दोनों अपने अपने बच्चों को जन्म देती हैं तो कारणवश रमन को अपनी माँ और बहन दोनों से शादी करनी पड़ती है और रिंकी और कामना एक दूसरे की सौतन ननद, जेठानी बनकर रमन को अपना पति मानती हैं और उसी के साथ रहती हैं..
कामना एक साथ बेटी की तरफ से नानी भी बनी थी, बेटे की तरफ से दादी भी बनी थी, और अपनी तरफ से माँ बनी थी, तो एक हिसाब से कामना को एक साथ 3 रिश्तों की जिम्मेदारी आई, वहीँ दूसरी और रिंकी अपनी तरफ से माँ भी बनी, भाई की तरफ से मौसी भी बनी और कामना की तरफ से एक बार फिर नन्हे मुन्हे बच्चे की बड़ी दीदी भी बनी और रमन चाचा, बाप और बड़ा भाई बना, ऐसा शायद ही कहीं देखने को मिले.
उपाधियाँ – रमन – मादरचोद (कामना (46) को चोदकर), बहिनचोद (रिंकी (**) को चोदकर).

अब वर्तमान में
सपना -इस कहानी का मतलब समझ नही आया भाई

काकी -- पंडित वैसे कुछ भी हो तेरी कहानी थी बहुत अच्छी पर इस कहानी से सुनंदा से बदला लेने वाली बात कहाँ से आ गई
Reply Report
08-04-2020, 12:00 PM,
#18
एक घर की ब्लु फिल्म
मैं आज से एक हफ़्ता पहले हॉस्टल से घर वापिस गया तो मेरी ज़िंदगी ही बदल
गयी। मैं अपनी पढ़ाई खत्म कर चुका था और अपनी बहन और माँ के पास जा रहा
था। मैने फोटोग्राफी का कोर्स पूरा कर लिया था। मैं अपनी माँ गिरजा का 19
साल का बेटा हूँ और मेरी माँ 41 साल की है। मेरी बहन नीरजा 21 साल की है
और उसने अभी शादी नहीं की है। मेरे पिताजी की मौत हो चुकी है और उनके
बीमे के पैसे से हमारा गुज़ारा हो रहा है।
पढ़ाई के दौरान मेरा संपर्क एक आदमी से हुआ था जो की ब्लू फिल्म का
बिज़नस करता है और मुझ से अच्छे भाव में अच्छी ब्लू फिल्म्स खरीदने के
लिए तैयार था। उसने मुझे बोला था की ग्रूप सेक्स की फिल्म बहुत बिकती
हैं। लेकिन मेरी प्राब्लम ये थी की ब्लू फिल्म्स के लिए सेक्सी ऐक्ट्रेस
कहाँ से लू।” साले निखिल, मौसी या अपनी बहन नीरजा की क़िसी सहेली को
राज़ी कर लेना और अगर लड़का ना मिले तो मुझे रोल दे देना। तू ही कहता था
की तेरी बहन बहुत सेक्सी है। उसस्की सहेली भी कम नहीं होगी।
तेरी फिल्म बन जाएगी और मुझे तेरी बहन की सेक्सी सहेली चौदने को मिल
जाएगी। क्यो क्या ख्याल है?” मेरा मौसेरा भाई आलोक मुझ से बोला था और
मैं हंस कर रह गया था, लेकिन मैने उसके आइडिया को याद रखा था। अब मैं आप
लोगों को अपनी बहन और माँ के बारे बता देता हूँ। मेरी माँ गिरजा 5 फीट 5
इंच की है और उसका वज़न 52 किलो है। रंग गोरा, कूल्हे भारी, पेट स्लिम,
चूची उभरी हुई।
माँ के बाल काले और लंबे हैं और वो जुड़ा करती है। गिरजा अधिकतर चूड़ीदार
पजामा और कमीज़ पहनती है। उसकी कमीज़ काफ़ी टाइट होती है जिस कारण उसके
चूत का उभार नज़र पड पड़ता है। मैं कई बार सोचता हूँ की पिताजी के बाद
गिरजा को लंड की कमी सताती होगी और वो ना जाने कैसे अपनी चूत को ठंडा
करती होगी। लेकिन मैने इससके बारे में अधिक ध्यान नहीं दिया क्योंकि
गिरजा मेरी माँ थी। लेकिन अब जब मैं ब्लू फिल्म का बिज़नस करने वाला हूँ
तो मुझे अपनी माँ भी एक ब्लू फिल्म की ऐक्ट्रेस ही नज़र आने लगी है।
नीरजा 5 फीट 6 इंच की सेक्सी लड़की है और छोटी स्कर्ट्स और टाइट टॉप्स
पहनती है और या फिर बहुत टाइट जीन्स पहनती है। मेरी बहन की गांड गिरजा से
थोड़ी कम भारी है और चूची कुछ छोटी, लेकिन बहुत मस्त है। नीरजा की चूची
कोई 34सी साइज़ की होगी। हॉस्टल में कई बार मुझे अपनी बहन की याद आ जाती
तो मेरा लंड खड़ा हो जाता और मैं मूठ मार लिया करता था। मैं अपने मन में
ब्लू फिल्म के बिज़नस का प्लान बना कर सपने देखता हुआ घर जा रहा था।
मेरे बैग में मेकअप का समान, अलग अलग किस्म की बिग, कुछ प्लास्टिक के लंड
भरे हुए थे। मैं लडकियों को अलग शक्ल में अपनी ब्लू फिल्म में शामिल कर
सकता था। जब मैं घर पहुँचा तो दरवाज़ा गिरजा ने खोला। वो मुझे गले से
लगती हुई मुझ से लिपट गयी और प्यार से मुझे चूमने लगी,” निखिल बेटा तुझे
देखने को तो मेरी आँखें तरस गयी। अब अपनी माँ को छोड़ कर कहीं मत जाना,
मेरे लाल!
गिरजा उसी वक्त पजामे के ऊपर एक टाइट टी शर्ट पहने हुई थी और उसने नीचे
ब्रा नहीं पहनी हुई था। मेरी प्यारी माँ की चूची मेरे सीने में धँस रही
थी जिस कारण मेरा लंड पेन्ट में तंबू बनाने लगा था। मैं जान बुझ कर अपने
हाथ गिरजा की चूत पर फिराने लगा। माँ को शायद मेरे लंड का ऊभार अपने पेट
पर महसूस हुआ। इसीलिए वो मुझ से अलग होती हुई बोली,” बेटा, तू तो पूरा
मर्द बन गया है। कितना बड़ा हो गया है…तू!” मैं भी तुरन्त अपनी माँ से
अलग हो गया।

तू अपना सामान अपने रूम में रख कर आजा मेरे रूम में। तेरी ममता मौसी भी
आई हुई है। हम वहीं पर चाय पीयेगे। ” ममता मौसी माँ से 2 साल छोटी थी।
आलोक ममता का ही बेटा था। मैने सामान रखा और गिरजा के रूम में चला गया।
ममता का पति हरीराम एक शराबी आदमी है लेकिन ममता मौसी एक पटाखा औरत है।
गोरी चिटी, काले घने बाल, मस्त भारी भारी चूची, नशीली आँखें, बहुत
मटकदार चूत। मैने सुना था की सेक्स की भूखी औरत है ममता आंटी।
ममता आंटी मुझे प्यार से गले लगा कर मिली। “आंटी आप तो पहले से भी अधिक
सेक्सी लग रही हो। क्या बात है? लगता है अंकल बहुत ख्याल रखते हैं आपका”
मैने जान बुझ कर आंटी की चूची पर हाथ फेरते हुए कहा।” तेरे अंकल अगर कुछ
करने लायक होते तो बात ही क्या थी, बेटा। वो तो बस शराब पी कर काम खराब
करने वाले हैं। अब तो मेरे घर का गुज़ारा ही बहुत मुश्किल से होता है।
पैसे की बहुत तंगी है। अगर कोई काम मिले तो मुझे दिला दो। सच बेटा कुछ भी
करने को तैयार हूँ” मैने एक बार फिर आंटी की मस्त चूची को स्पर्श करते
हुए कहा “आंटी, मेरी फिल्म में काम करोगी? लेकिन मेरी फिल्म कुछ अलग टाइप
की होगी। अगर आप जैसी कोई और भी सेक्सी औरत हो तो और भी अच्छा होगा। पैसे
बहुत मिलेंगे। सच कहूँ तो मेरी फिल्म असल में ब्लू फिल्म होगी। अगर
मंज़ूर है तो बता देना” आंटी मुस्कुरा कर बोली,’ निखिल बेटा, मेरी बदनामी
होगी अगर क़िस्सी को पता चला की मैं ऐसी फिल्म में काम करती हूँ। और इस
के अलावा, कौन सा मर्द काम करेगा इस फिल्म में, अगर मैं राज़ी हो भी गयी
तो?”
मैने अब आंटी की चूची को कस कर मसल दिया और बोला” आंटी तुम चिंता मत करो।
कोई आपको पहचान ना सकेगा। मैं आपकी शकल बदल दूँगा और वैसे भी ये फिल्म
इंडिया में नहीं बिकेगी। हाँ इस फिल्म में और शायद एक और लड़का काम
करेगा। मुझे और भी लड़कियाँ चाहिए इस काम के लिए” आंटी खुश हो गयी। तभी
माँ कमरे में दाखिल हुई। “क्या चल रहा है तुम दोनों के बीच, बेटा?
तुम ने तो ममता को खुश कर दिया इतनी जल्दी। बहुत उदास थी बेचारी। एक तो
पैसे की कमी और दूसरा पति शराबी। बिना पति के ज़िंदगी कैसी होती है तुम
क्या जानो, निखिल बेटा! आलोक को भी तो जॉब नहीं मिल रही हे।”आंटी ने
गिरजा को आँख मारते हुए कहा” गिरजा, मेरी जान, तेरा बेटा तो मेरे लिए
वरदान बन कर आया है। इसने मुझे अपनी फिल्म में रोल दे दिया है और जिस तरह
की फिल्म है उसमें मज़े के मज़े और पैसे के पैसे।
गिरजा तेरा बेटा तो ब्लू फिल्म बना रहा है जिसमें वो खुद भी काम करेगा।
मज़े की बात तो ये है की इसकी बिक्री इंडिया में नहीं होने वाली। मैं तो
कहती हूँ की गिरजा भी इस फिल्म में काम करे। निखिल बेटा घर का पैसा घर
में रहेगा और तेरी माँ की चूत भी शांत हो जायेगी। कब तक हम एक दूसरे की
चूत को उंगली से शांत करती रहेंगी? मैं और गिरजा दोनो लंड की प्यासी
औरतें हैं, बेटा। तुम अगर चाहो तो आज ही फिल्म शुरू कर देना, क्यो
गिरजा?”
ममता मौसी की बात सुन कर मेरा लंड खड़ा हो गया। माँ के सामने ऐसी बाते कर
रही थी की गिरजा शर्म से पानी पानी हो रही थी। ममता ने उठ कर मेरी पेन्ट
की चैन खोल डाली और मेरा लंड बाहर निकाल लिया। “गिरजा देख तेरा बेटा
कितना जवान हो गया है, बाप रे बाप इसका हथियार कम से कम 9 इंच का है।
ज़रा स्पर्श कर के तो देख, गिरजा!” मा गुस्से में बोली,” ममता…. कुछ शर्म
करो!
निखिल मेरा बेटा है बेशर्म!” लेकिन मैने देखा की माँ की नज़र मेरे लंड पर
टिकी हुई थी। माँ का दुपट्टा सरक गया और उसकी सुडोल चूची नज़र आने लगी।
मैने माँ की आँखों में देखा तो मुझे वासना की झलक साफ दिखाई पड़ी। तो
मतलब साफ था। आज ही माँ और मौसी को ले कर पहली ब्लू फिल्म बना डालूँगा!
मैने ममता को किस कर लिया और वो मुझ से लिपटने लगी। वासना में जलती हुई
मेरी माँ अब हमारे पास आ बैठी और ममता से बोली,”
लेकिन ये ठीक नहीं है, ममता। निखिल बेटा क्या ये सच है की हमको कोई पहचान
नहीं सकेगा?” मैने माँ को अपनी गोद में खींच लिया और उसकी चूची को खीच कर
बोला,” सच बोलता हूँ, क़िसी को पता नहीं चलेगा। तुम मेरा यकीन करो। मेरे
पास मेकअप का सामान है जिससे मैं तुम लोगों की शकल बदल दूँगा और आपको तो
नीरजा भी पहचान नहीं पाऐगी” गिरजा मेरी बात सुनकर मस्त हो गयी और ममता
मेरे लंड को सहलाने लगी। लेकिन मैं बिना कुछ किऐ झडना नहीं चाहता था।
“माँ, तुम दोनो मेरे कमरे में आवो और मैं आपका मेकअप कर देता हूँ और आलोक
को फोन भी कर लेता हूँ। वो भी मेरे साथ ब्लू फिल्म में काम करेगा” मैने
कहा पहले तो ममता ने ना की लेकिन फिर दोनो औरतें तैयार हो गयी। अपने कमरे
में जा कर मैने कहा,” मौसी अब जल्दी से कपड़े उतार दो और मुझे अपने नंगे
हुस्न का दीदार करवा दो।” दोनो धीरे धीरे नंगी होने लगी। मेरी माँ का
जिस्म नंगा होकर मेरी नज़रों के सामने आ गया।
जब माँ ने अपनी पेन्टी उतारी तो उसकी फूली हुई चूत पर छोटे छोटे बाल थे।
चूत के होंठ उभरे हुए थे। ब्रा हटने पर माँ की मस्त चूची उछल कर बाहर आई
तो मेरा लंड भी उछल पड़ा। गिरजा, मैं अभी कैमरा सेट करता हूँ। तब तक तुम
दोनो आराम से नंगी हो जावो। मेरे बैग में कुछ कपड़े हैं, आप को जो पसंद
हो पहन लेना। याद रहे फिल्म शूट करने से पहले मैं आपको बिग पहनाऊगा और
कुछ मेकअप करूँगा।
मैं अभी आया” कहते हुए मैं अपने रूम में गया और ड्रेस वाला बैग माँ और
आंटी को दे दिया। दोनो नंगी औरतें बहुत सेक्सी लग रही थी। मेरा दिल कर
रहा था की अभी चोद डालूं दोनो को, लेकिन फिल्म बनाना बहुत ज़रूरी था। फिर
मैने आलोक को फोन किया और बोला” आलोक, मेरे यार दो मस्त रंडिया मिल गयी
है और फिल्म की शूटिंग शुरू करने वाला हूँ। तुम एक घंटे में यहाँ पहुँच
जाना और आज ही अपनी फिल्म का उद्घाटन करना है। हमको आलोक बोला” वा मेरे
यार, मैं आ रहा हूँ” मैने बैग से एक बोतल विस्की की निकाली और फ्रिज से
आइस ओर सोडा लेकर माँ के रूम में गया। मैने तीन ग्लास भरे और दोनो को एक
एक ग्लास पकड़ा दिया,” गिरजा, तुम दो दो ग्लास पी लो फिर क़िसी किस्म की
मुश्किल नहीं होगी। कोई मानसिक तनाव है तो हट जायेगा। आलोक आ रहा है।
आलोक को फिल्म में लेने से कोई पैसा बाहर नहीं जाऐगा।
कैमरा घर के हर कॉर्नर में फिट कर के आता हूँ। तुम शराब का मज़ा लो” मैने
एक कैमरा घर के गेट के अंदर लगा लिया था की घर में आता हुआ हर कोई नज़र
आए और अगर उसको फिल्म में लेना हो तो ले सकें। दूसरा बेडरूम में जिसमें
में दो डबल बेड लगे हुए हैं, ,तीसरा माँ के रूम में और चोथा ड्राइंग रूम
में लगा दिया और रिकॉर्डर्स ऑन कर दिए। मैं खुद माँ के रूम में चला गया।
आंटी की चूत तो शेव की हुई थी और चमक रही थी लेकिन गिरजा की चूत पर कुछ
बाल थे। “मौसी, आप गिरजा की चूत को शेव करना। माँ आप टाँगें फैला कर रखो
और आंटी आपकी चूत को मसलना शुरू कर देंगी जिससे आपकी चूत में उतेजना
बढ़ेगी। फिल्म में मैं आप दोनो को छुप के देखूगा और आप मुझे पकड़ लेंगी
और मुझे चुदाई के लिए बोलेगी, लेकिन आप ये बिग पहन लें
मैने गिरजा को एक छोटे बालों वाली बिग पहना दी और आंटी को एक काले बालों
वाली बिग पहना दी। खुद मैं ड्राइंग रूम में चला गया। अपने ग्लास से
चुस्की लेता हुआ शराब पी रहा था और सोच रहा था की दोनो रंडिया क्या कर
रही होंगी। तभी मुझे गिरजा की सिसकारी सुनाई पड़ी” अहह बस करो ममता
अह्ह्ह्हह उफ्फ्फ धीरे करो उइईई ” ग्लास नीचे रख कर मैं उनके रूम की तरफ
बढ़ा। देखा की आंटी माँ की चूत पर झाग लगा रही हैं और माँ मस्ती में
सिसकारी ले रही है।
माँ के चेहरे के भाव और सिसकारी इस तरह से कामुकता से भरी हुई थी की
क़िसी भी ब्लू फिल्म की हीरोइन को मात दे रही थी। ये रिज़ल्ट शायद इसलिए
स्वभाविक था क्योंकि माँ बहुत चूतसी हालत में थी। अपनी माँ और ममता आंटी
को इस कामुक अवस्था में देख कर मैने चैन खोल कर लंड बाहर निकाल लिया और
हिलाने लगा। मेरी आँखों में वासना की चमक आ गयी थी। उधर मौसी ने रेज़र से
माँ की चूत को शेव करना शुरू कर दिया।
कैमरा सब कुछ क़ैद कर कर रहा था। तभी गिरजा की नज़र मेरे ऊपर गयी और वो
चौंक पड़ी। फिल्म में भी मैं उसका बेटा ही बना हुआ था।” हे भगवान बेटा
तुम ये क्या कर रहे हो ममता देखो निखिल क्या कर रहा है इसका कितना बड़ा
है ममता ने मेरी तरफ देखा तो बोली,” गिरजा, कोई बात नहीं जो हम दोनो को
चाहिऐ तेरे बेटे के पास है निखिल बेटा अपनी मौसी और माँ को चोदना चाहोगे
? हम दोनो लंड की भूखी हैं! आवो बेटा हम को अपने लंड से चोद कर ठंडी कर
दो!
मैं कमरे में दाखिल हुआ। मेरी नज़र अपनी माँ की फैली हुई टाँगों के बीच
उसकी ताज़ी शेव की हुई चूत पर टिकी हुई थी। माँ की आँखें वासना से बंद हो
चुकी थी। मैं दोनो औरतों के पास गया तो ममता ने मेरा लंड पकड़ लिया। आंटी
के मुलायम हाथ के स्पर्श से मेरे जिस्म में करंट सा लगा। गिरजा ये सब देख
कर प्यासी नज़र से अपने बेटे को देख रही थी। मैने गिरजा की चूची को भींच
लिया और बोला” माँ तुम भी अपने बेटे का लंड पकड़ना चाहती हो?”
माँ ने वासना में अपना सिर हिला दिया।” माँ अपने बेटे के लंड से चुदवाना
चाहती हो?” उसने फिर से हाँ में सिर हिला दिया। ममता ने मेरा लंड चाटना
शुरू कर दिया था। मैने माँ का सिर पकड़ कर अपनी तरफ खींच लिया और उसके
होंठ अपने लंड से चिपका दिए,” तो फिर चूस लो इसको , गिरजा और बना डालो
अपने बेटे को मादरचोद !!” मौसी और माँ दोनो बारी बारी मेरा लंड चूसने
लगी। एक लंड चुसती तो दूसरी मेरे अंडकोष चाट लेती।
मेरा लंड उनके थूक से भीग चुका था। “बेटा, अब देर मत करो। चोद डालो हम
दोनो को ऐसा लंड हमने पहले नहीं देखा, कितना मोटा है!!!” ममता बोल रही
थी। मैं दोनो से अलग होता हुआ बोला,” तो चलो बेडरूम में। मेरा लंड भी आप
जैसी औरतों को चोदने के लिए तड़प रहा है।।” हम तीनो बेडरूम में चले गये
और मैं माँ और आंटी को चूमने लगा। फिर गिरजा के ऊपर चढ़ कर उसकी चूची
चूसने लगा और मौसी मेरा लंड चूसने लगी।
मैं ऐसे ऐगल से दोनो औरतों को पेश कर रहा था की उनके नंगे जिस्म मेरी
फिल्म को उतेजना पूर्ण बना दें। माँ का हाथ अब अपनी चूत पर रेंग रहा था।
अचानक माँ ने मेरा लंड ममता आंटी के मुहँ से खींच लिया और बोली,” चोद
मुझे अब, बेटा। इस चूत की आग बुझा दे। मेरी चूत ठंडी कर के अपनी आंटी को
भी शांत कर देना” मैं भी गरम हो चुका था। मैं आंटी से बोला,” आंटी, आप
माँ की चूत को चाटना शुरू करो। मैं अभी आकर इसको चोदता हूँ” मैं ये कह
कर बाहर निकला। गेट के बाहर आलोक खड़ा था। मुझे देख कर मुस्कुरा पड़ा
मेरा भाई मुस्कुराता भी क्यो ना, मैं उसको उसकी सगी माँ और मौसी चोदने
का मौका देने वाला था।’ आलोक मादरचोद इतनी देर लगा दी क्या बात है। अब
अंदर चल जल्दी से और चुदाई शुरू कर मैं अभी आता हूँ। और बता दू क़िसी से
शरमाना नहीं। वो तैयार हैं सब कुछ करने के लिए तु जी भर के मज़े लेना”
मैं अपने रूम में जा कर देखने लगा की फिल्म ठीक से बन रही है या नहीं।
मैने कैमरे में देखा तो बहुत मज़ा आया। माँ ममता की टाँगों को फैला कर
उसकी चूत चाट रही थी। उनकी सिसकारीयो से लगता था की कोई बहुत बड़िया
विदेशी ब्लू फिल्म चल रही हो। उनको देख कर मेरा लंड बेकाबू हो गया और मैं
उसको ऊपर नीचे करने लगा। तभी आलोक पलंग के नज़दीक जा खड़ा हुआ और वो पहले
तो चौंक पड़ा जब उसने अपनी माँ को नंगा देखा लेकिन फिर गिरजा की चूची पर
हाथ फेरने लगा।
जब मैं वापस आया तो ममता से लिपट गया और उसको चूमने लगा। गिरजा और आलोक
चुंबन ले रहे थे।” माँ आलोक को भी नंगा कर दो ना बहुत चाहता है तुझे ये
साला मौसी तुम भी चुदाई के लिए तैयार हो जावो। आज गिरजा और ममता दोनो साथ
साथ चुदेगी। आंटी मैं तुझे घोड़ी बनाना चाहता हूँ” ममता मेरी बात सुन कर
घोड़ी बन गयी। जब उसने अपनी चूत ऊपर उठाई तो उसकी गांड का ब्राउन छेद
मुझे दिखाई पड़ा।
वासना के नशे में मैने उसकी गांड को चूम लिया और आंटी सिसकारी भर उठी” बस
बेटा बस, और मत तडपावो। अपनी चुदासी आंटी को चोद भी दो। मैने उसकी चूत पर
हाथ फेरा और पीछे से अपना लंड आंटी की चूत पर टिका दिया। मैने अपनी कमर
को आगे बढ़ा कर धक्का मार दिया। आंटी के मुहँ से हल्की चीख निकल गयी जब
मेरा लंड दनदनाता हुआ उनकी चूत में चला गया।
गिरजा आलोक का लंड चूस रही थी। लेकिन मेरी चुदाई देख कर बोली। आलोक, साले
अपने भाई से कुछ सीख। देख कैसे चोद रहा है अपनी मौसी को? अब तू भी चोद
डाल मुझे। शाबाश मेरे यार!”मेरे बिल्कुल बराबर गिरजा भी घोड़ी बन गयी और
आलोक उसको चोदने लगा। वक्त के साथ चुदाई की रफ़्तार तेज़ होती गयी। मेरी
माँ क़िसी थकी हुई कुत्तिया की तरह हाँफ रही थी। आलोक पूरे ज़ोर से मेरी
माँ को चोद रहा था और मैं अपनी आंटी की चूत में लंड डाल रहा था।
मेरे अंडकोष आंटी की गांड से टकरा रहे थे। कमरे में चुदाई का संगीत गूँज
रहा था। आलोक ने माँ की बगल में हाथ डाल कर उसकी चूची पकड़ी हुई थी और
उसको ज़ोर से भींच रहा था।”ऊऊऊऊ बेटा चोद मुझे ज़ोर से चोद मादरचोद तेरा
लंड मेरी चूत की गहराई तक घुस चुका है आआहह….मेरी बच्चेदानी से टकरा रहा
है बहुत सुख दे रहा है तेरा लंड बेटा…शाबाश चोद मुझे! गिरजा बोल रही थी।
अपनी माँ और मौसेरा भाई को देख कर मेरा जोश भी दुगना हो गया और मैं आंटी
को बेरहमी से चोदने लगा। ममता की साँस भी तेज़ी से चलने लगी और मैं उसकी
पीठ पर किस करने लगा” आअहह. बेटा ज़ोर से चूम ले अपनी आंटी को चोद ले
हरामी डाल दे सारा लंड मेरी चूत में है मार मुझे बेटा ज़ोर से मार…आआआहह
शाबाश निखिल!” मैं आंटी की गांड को थाम कर ज़ोर ज़ोर से चोदने लगा।
मेरी बगल में गिरजा को मेरा यार चोद चोद कर निहाल कर रहा था। हम चारों
पसीना पसीना हो रहे थे और मुझे मालूम था की फिल्म बहुत अच्छी बन रही है।
लंड दोनो की चूत में “पचक, पचक” की आवाज़ करते हुए चुदाई कर रहे थे। आलोक
अब गिरजा की चूत पर चोट मारने लगा। वो जैसे जैसे गरम होता गया, मेरी माँ
की गांड को और ज़ोर से पीटने लगा। गिरजा की चूत लाल हो गई थी।
मैने भी उसको देख कर आंटी की गांड पर हाथ मारना शुरू कर दिया। मुझे लगा
की फिल्म में ऐसा सीन बहुत पसंद किया जाऐगा। कोई 10 मिनिट के बाद आलोक
बोला” निखिल मेरे यार क्यो ना पार्टनर बदल लिए जाये। तुम अपनी माँ का
टेस्ट देख लो और मैं अपनी माँ का मुझे अपनी माँ भी बहुत मस्त माल लग रही
है” मुझे अपने यार का ख्याल अच्छा लगा और मैने मौसी की चूत से लंड बाहर
खींच लिया और उसके नंगे जिस्म से अलग हो गया।

आलोक ने गिरजा को छोड़ दिया और फिर मैं अपनी माँ को किस करने लगा। आलोक
ने ममता के मूहँ में अपना लंड डाल दिया और बोला” माँ, चूस मेरा लंड तुझे
इस पर अपनी बहन की चूत के रस का स्वाद आयेगा चख कर देख गिरजा आंटी की चूत
कितनी नमकीन है! ममता आंटी उसी वक्त झुक कर अपने बेटे का लंड चूसने लगी।
मैं अपनी माँ को अपने ऊपर चढ़ा कर चोदना चाहता था। इस स्टाइल मैं मुझे
माँ की चूची साफ दिखाई पड़ेगी और उसको चूसने का आनंद भी मिल जाऐगा। मैने
गिरजा की चूत को मसल कर कहा,’ माँ मैं अपना लंड उस चूत में घुसते देखना
चाहता हूँ जहाँ से मैं पैदा हुआ था तेरा दूध देखना चाहता हूँ जिनको चूस
कर मैं बड़ा हुआ हूँ तुझे उस लंड की सवारी करते देखना चाहता हूँ जो तेरी
कोख से निकला है गिरजा मेरी रानी मेरी माँ अपने बेटे के लंड पर सवार होकर
स्वर्ग का आनंद दे दो मुझे! मैं नीचे लेट गया और गिरजा बिना कुछ बोले
मेरा लंड पकड़ कर मेरी कमर पर सवार हो गयी और मेरे सुपडे पर अपनी चूत को
रगड़ने लगी।
आलोक ने ममता को पलंग के कोने तक खींच लिया और उसकी टाँगों को अपने कंधे
पर टीका लिया। ममता ने वासना के कारण अपनी आँखें बंद की हुई थी और
सिसकारी भर रही थी। गिरजा की आँखों में वासना के लाल डोरे झलक रहे थे जब
वो मेरा लंड अपनी चूत में घुसाने की कोशिश कर रही थी। मैने माँ की कमर कस
के पकड़ ली और अपनी कमर उठा कर लंड माँ की चूत में डाल दिया। मेरा लंड
माँ की चूत में फट से घुस गया और वो सिसकारी भर उठी”
मर गयी मेरी माँ उफ्फ बेटा तुमने तो मुझे आनंद से ही मार दिया निखिल अपने
बेटे के लंड का मज़ा क्या होता है मुझे तो पता ही ना था है निखिल, डाल दे
पूरा मेरी चूत में शाबाश बेटा चोद अपनी माँ को तेरा बिजनस अच्छा है चुदाई
की चुदाई कमाई की कमाई वा बेटा क्या लंड है मुझे पसंद है आलोक भी, अब
मेरा भी यार है मुझे धन्य कर दिया मेरे बेटे अपनी माँ की चूची चूस ले और
चूत चोद ले! मैं भला अपनी माँ के आदेश की पालना क्यो ना करता।
आदेश भी इतना मज़ेदार था की मैने गिरजा की मस्त चूची को थाम लिया और उसके
निपल चूसने लगा। माँ मेरे लंड पर उछलने लगी आलोक, साले मुझे भी ज़ोर से
चोद जैसे निखिल अपनी माँ को चोद रहा है। अगर तेरे अंदर भी मादरचोद बनने
का शौक है तो अपनी माँ को चोद डाल आज जी भर के ऊह्ह्ह हाँ ज़ोर से कस के
डाल मादरचोद।…आलोक बेटा और ज़ोर से!” आलोक की रफ़्तार भी तूफ़ानी हो चुकी
थी” ओह्ह्ह्हह्ह माआआ ममता मेरी माँ आज तक ऐसी चुदाई नहीं की है मैने…
जब तुम मुझे बेटा कह कर पुकारती हो तो मेरे लंड की शक्ति दोगुनी हो जाती
है आआआ ।…।मैं अब रुक ना सकूँगा मेरी माँ !”मुझे भी लग रहा था मेरा लंड
जल्द ही झरने वाला है। गिरजा भी अब अपनी गांड तेज़ी से ऊपर नीचे कर रही
थी। कमरा चुदाई की सिसकारीयो से गूँज रहा था। लंड रस और चूत रस की महक
कमरे में फैल चुकी थी। मैं और आलोक तेज़ी से धक्के मार कर दोनो औरतों को
चोद रहे थे।
मेरे अंडकोष अब मेरा रस मेरे लंड की तरफ उठा रहे थे और एक कामुक चीख मार
कर मैं झरने लगा,” ऊऊऊ…।।हाईई…।ऊऊऊओ…आआआआः!” गिरजा का जिस्म ऐसे काप रहा
था जैसे उसको बहुत बुखार हो। वो पागलों की तरह चुदाई के आनंद सागर में
डूब रही थी। मेरी माँ की चूत से रस की धारा बहने लगी। उधर आलोक ताबड तोड़
अपनी माँ को चोद रहा था।
ममता की चूची को आलोक के हाथ मसल रहे थे और दोनो मस्ती के सागर में गोते
लगा रहे थे, बेटा, मैं झड़ गयी। चोद आलोक मेरे लाल…मेरी चूत पानी छोड़
रही है ऐसी चुदाई तो तेरे नपुंसक बाप ने भी नहीं की कभी…बेटा चोद डाल
अपनी चुदासी माँ को! ” उसी वक्त मेरे लंड का पानी निकल गया। और आलोक भी
धक्के मारता हुआ खलास होने लगा। धीरे धीरे चुदाई का तूफान शांत होने लगा
और हम दोनो अपनी अपनी माँ के ऊपर ढेर हो गये।
Edit Reply Report
08-09-2020, 01:19 PM,
#19
RE: Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा
mast story
Reply Report



[-]
Quick Reply
Message
Type your reply to this message here.



Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Raj Sharma Stories जलती चट्टान desiaks 72 8,771 08-13-2020, 12:29 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा sexstories 87 525,720 08-11-2020, 11:49 PM
Last Post: desiaks
Star Incest Kahani उस प्यार की तलाश में sexstories 84 183,972 08-10-2020, 10:46 AM
Last Post: AK4006970
  स्कूल में मस्ती-२ सेक्स कहानियाँ desiaks 1 13,244 08-09-2020, 01:37 PM
Last Post: sonam2006
Star Chodan Kahani रिक्शेवाले सब कमीने sexstories 15 68,397 08-09-2020, 01:16 PM
Last Post: sonam2006
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी desiaks 3 41,316 08-09-2020, 01:14 PM
Last Post: sonam2006
  पारिवारिक चुदाई की कहानी Sonaligupta678 20 183,888 08-09-2020, 01:06 PM
Last Post: sonam2006
Lightbulb Hindi Chudai Kahani मेरी चालू बीवी desiaks 204 42,329 08-08-2020, 01:00 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर sexstories 89 169,848 08-08-2020, 06:12 AM
Last Post: Romanreign1
Star Hindi Porn Stories हाय रे ज़ालिम sexstories 931 2,573,301 08-07-2020, 11:49 AM
Last Post: Romanreign1



Users browsing this thread: Romanreign1*, 7 Guest(s)