Romance एक एहसास
07-28-2020, 12:53 PM,
#31
RE: Romance एक एहसास
सुरेन्द्र पाल सिंह होठों से कुछ बुदबुदाए जा रहे थे जो किशन समझ नहींं पा रहा था| थोड़े-थोड़े अन्तराल के बाद उसकी आंखें भर आती थी| वे बहुत असहाय से लग रहे थे| उसके चेहरे पर एक उदासी सी छायी रहती जिससे हृदय छलनी होता था और रोना आता था|

किशन खाना छोड़कर सुरेन्द्र पाल सिंह को हैरानी से देख रहा था|

"बाबा, इनकी आंखों की रोशनी चली गई है… और बेटे की मौत के सदमे से इनकी दिमागी हालत भी बिगड़ गई है इसलिए ऐसे ही कुछ भी बड़बड़ाते रहते हैं|" राधिका ने बताया|

“मगर यह सब हुआ कैसे“ उसने फिर पूछा|

“बाबा इस समाज… इस खौखले रिति रिवाजों वाली दुनिया में प्यार करने वालों के दुश्मनों की कमी नहीं है… मेरे जीजा जी किसी दूसरी लड़की से प्यार करते थे, मगर उनके साथ भी वही शीतल वाली कहानी हुई… जबरदस्ती उनकी शादी मेरी बहन से कर दी गई| परन्तु जोर जबरदस्ती के बनाये गये बन्धन किसी को सदा के लिए नहीं बांध सकते| एक दिन संजय ने जहर खा लिया| घर में जो कुछ जमा पुंजी थी वह सब उसे बचाने की कोशिश मे खर्च हो गई| बस बाबा संजय के साथ-साथ इस घर की तरक्की की हर उम्मीद का भी दम निकल गया… मगर बाबा जो इस सब के लिए जिम्मेदार है मैने उससे बदला ले लिया है अब जबकि वह ऐसे हालात मे है जहां सिर्फ मैं उसकी मदद कर स्कती हू लेकिन मै ऐसा करूंगी नहीं… अब वह भी नरक की आग में जलेगा| बाबा मुझे आशीर्वाद दीजिये कि मैं अपने इरादांे पर कायम रह सकूं|

राधिका की बातें सुनकर किशन को किसी पुस्तक से पढ़े हुए शब्द याद आ गये जो कइन्सान सूर्य और चन्द्रमा के भीतर का रहस्यों का भी पता लगा सकता है किन्तु जब एक औरत किसी को उलझाने पे आये तो उसको समझ पाना किसी के बस की बात नहीं”

“देवी शत्रु की हानि इन्सान को अपने लाभ से भी अधिक प्रिय होती है, मानव स्वभाव ही कुछ ऐसा है परन्तु बहुत कम लोग ऐसे खुशनसीब होते हैं जिनको सच्चा प्यार मिलता है| जहांं तक मैं समझ रहा हू तुमने अपने क्रोध के वशीभूत होकर अपनी व अपने प्रियतम दोनों की जिन्दगी बर्बाद कर ली है| क्योंकिं किसी ऐसे शख्श से नफरत करने के लिए जो उसके सर्वनाश का कारण हो किसी के आशीर्वाद की जरूरत नहीं होती| ऐसा केवल वही कह सकता है, जो अपने उस दुश्मन के लिए दिल से मजबुर हो ओर ऐसी परिस्थिती मे दिल को मजबुर या कमजोर बनाने का काम केवल मोहब्बत कर सकती है| महोब्बत बैर से कहीं ज्यादा पाक होती है ये उस दामन में मुंह छिपाने से भी परहेज नहींं करती जो उसके अजीजों के खून से सना हुआ है|”

“बाबा…

भगवान के लिए मुझे ये इल्जाम न दो,

मुझे उससे प्यार है, ये मुझसे सहा न जाएगा|

यह कहते-कहते राधिका की आँखों में आंसुओं की बाढ़ आ गई| मैने क्या गलत किया बाबा… यदि कोइ हमारी चीज छीन ले तो हमारा धर्म है कि उससे यथाशक्ति लड़ें| हार कर बैठना तो कायरों का काम ह मैने बस वही किया जो मुझे करना चाहिए था| मेरे शत्रु को उसके कुकृत्य का दंड़ देकर इश्वर ने भी मेरा सही होना व अपना न्याय सिद्ध किया है|

किशन उठ खड़ा हुआ| उसकी आखों से नफरत का पर्दा हट गया| उसे राधिका की बेवफाई का रहस्य समझ आ गया और बरबस ही उसकी आंखों से भी आंसू की चंद बूंदें टपक पडी| शर्म और अपमान की एक ठंड़ी लहर शिराओं में रेंग गई|

“जब मैं मान-मर्यादा से ही हाथ धो बैठा तो अब इस समाज में नीच बन कैसे जीऊंगा” इसी विचार के साथ वह उठकर चल दिया| उसने आत्म−बलिदान से इस कष्ट का निवारण करने का दॄढ़ संकल्प कर लिया| वह उस दशा में पहुच गया था जब सारी आशाएं मॄत्यु पर ही अवलम्बित हो जाती है| उसे मॄत्यु का अब जरा भी भय न था|

एक घर के नजदीक से गुजरते हुए इस गीत के बोल उसके कानों में पउजड़ा मेरा नशीब, हाथ मेरे खाली,तू सलामत रहे, अल्लाह है वाल्ली,

उजड़ा मेरा नशीब, हाथ मेरे खाली,तू सलामत रहे, अल्लाह है वाल्ली,

दिल पे क्या गुजरे,

वो शख्श जो हारा है|

भीगी पलकों पर, नाम तूम्हारा है,

बीच भंवर कश्ती बड़ी दूर किनारा है …

कैसा तड़पा देने वाला गीत था और कैसी दर्द भरी रसीली आवाज थी बब्बु मान की|

संगीत में कल्पनाओं को जगाने की बडी शक्ति होती है| वह मनुष्य को भौतिक संसार से उठाकर कल्पना लोक में पहुंचा देता है| किशन इस गीत से इतना प्रभावित हुआ कि जरा देर के लिए उसे ख्याल न रहा कि वह कहां है| दिल और दिमाग में बस वही राग गूँज रहा था| दिल की हालत में एक ज़बरदस्त इन्कलाब हो रहा था, उसके मन ने उसे धिक्कारा और इस जिल्लत ने उसकी बदला लेने की इच्छा को भी खत्म कर दिया| अब उसे गुस्सा न था, गम न था, उसे बस मौत की आरजू थी, सिर्फ, एक चेतना बाकी थी और वह अपमान की चेतना थी| उसने एक ठण्ड़ी सांस ली| दर्द उमड़, आया| आसुओं से गला फंस गया, जबान से सिर्फ इतना निकलये मै कैसे सहूंगा, कि मैं बेवफा हूँ ,

जब अपनी जगह सच्चा मेरा प्यार है|

अगर वो ही नहीं मेरे नसीब मे,

फिर चाहे भगवान भी करे वादा,

अब मुझको हर खुशी देने का,

तब भी मुझे जीने से इन्कार है,

ये मै कैसे सहूंगा, कि मैं बेवफा हूँ ,

जब अपनी जगह सच्चा मेरा प्यार है|

किशन की आखों से आंसू गिरने लगे|

दीवार फांदकर किशन चुपके से अपने घर में घुस गया| वह तेजी से एक कमरे की ओर बढ़ गया जहां एक कोने में एक बड़ी सी कैन रखी थी| जिसका प्रयोग खेतों में खरपतवार को नष्ट करने के लिए किया जाता है| उस कैन पर मोटे-मोटे अक्षरों में लिखा था ''जहर''|
Reply

07-28-2020, 12:53 PM,
#32
RE: Romance एक एहसास
किशन ने हाथ बढ़ाकर कांपती हुई अंगुलियों से उसे उठाया और दीवार के सहारे बैठ गया, फिर कुछ सोचते हुए उसने कैन का ढ़क्कन खोला और कैन को मुंह सें लगाकर आधी खाली कर दी| वह अभी उस कैन को फेंक भी नहीं पाया था कि उसकी आखों के सामने तारे झिलमिला गये| कुछ देर वह कटी मछली की भांति तड़पता रहा, फिर बेहोश होकर फर्श पर लेट गया|

कुछ क्षण बाद कुलदीप ने उस कमरे में प्रवेश किया तो किशन के हाथ में जहर की कैन देखकर वह चौंक गया| उसने तेजी के साथ आगे बढ़कर उसके हाथ से वह कैन छीन ली-फिर घबराते हुए स्वर में बोला “किशन..यह क्या किया तूने ... जहर खाने से पहले क्या तुझे अपने माता पिता का जरा भी ख्याल नहीं आया| उनके दिये हुए जीवन को तुम यूं ही व्यर्थ में नष्ट कर दोगे ... जिन्होने हर पल तुम्हारे लिए खुशियां मांगी तुम उनको जीवन भर का रोना दे जाओगे”|

मेरा ऐसा कोइ इरादा नहीं था भाई, मैंने तो बस अपनी जीवन लीला खत्म करने के लिए जहर खाया है… भाई मैं क्या करता मेरे पास कोइ रास्ता भी तो नहीं बचा था…”|

“कोइ रास्ता नहीं बचा था तो तुमने ये कौन सा रास्ता चुन लिया… आत्महत्या किसी भी समस्या का हल नहीं होता, अगर ऐसा होता तो संजय की आत्महत्या के पश्चात् सब ठीक क्यों नहींंप्रकृति, समय और धैर्य ये तीन हर समस्या का हल और हर दर्द की दवा हैं|

मेरे भाई जीते जी सब कुछ संभव है जिस तरह कुछ ही समय में तुम्हारे लिए सब रास्ते बंद हो गये थे, उसी तरह जिन्दा रहोगे तो रास्ते खुल भी जायेंगे,­ आत्महत्या किसी भी हालात में जिन्दगी के किसी भी सवाल का सही जवाब नहीं हो सकता| सुख व दु:ख जिंदगी की किताब के दो पन्ने हैं| जो इन दोनोंं पन्नो को पढ़ता है वही जिंदगी का सही मतलब समझता है”|

“नहीं भाई मुझे मर ही जाना चाहिए था… मैने सबको दु:ख दिया… राधिका… इतना बोलने के साथ ही किशन की आखें बंद होती चली गई|

“ओह… राधिका…मेरे भाई तुम राधिका के लिए दुखी हो लेकिन उसके लिए तो तुम किसी भी पल मर सकते हो, और शायद उसे तुम्हारे होने या न होने से कोइ फर्क न पड़े मगर क्या तुम्हे उनके लिए नहीं जीना चाहिए जो तुमसे बहुत प्यार करते हैं, और जिनको तुम्हारे होने या न होने से बहुत फर्क पड़ता है|

किशन कुछ बोल रहा था मगर अब उसके शब्द कुलदीप को समझ नहीं आ रहे थे| वह समझ गया जहर का असर होना शुरू हो गया है|

“मै तुझे मरने नहीं दुंगा मेरे भाई ” कुलदीप पागलों की तरह चीखते हुआ बोला | वह किशन को उठाकर तेजी से कमरे से बाहर निकला| कुछ ही देर में यह खबर मोहल्ले में आग की तरह फैल गई| किशन की हालत को देखकर तो अब उसका बचना मुश्किल लग रहा था…|

कुछ ही देर में एम्बुलैंस आ गई| कुलदीप ने किशन को उठाकर एम्बुलैंस में लिटा दिया| सुनील व रोहन भी कुलदीप के साथ एम्बुलैंस में किशन के समीप बैठ गये| उनके बैठते ही एम्बुलैंस अस्पताल की और चल दी|

करीब पन्द्रह मिनट बाद एम्बुलैंस हास्पिटल पहूंंची| गाड़ी का दरवाजा खोलकर सुनील रोहन व कुलदीप नीचे उतर गये| किशन को एम्बुलैंस से उतारकर स्ट्रैचर पर लिटाकर एमरजैंसी वार्ड़ में ले जाकर ड़ाक्टरों ने किशन का उपचार करना शुरू कर दिया|

माता-पिता के प्रेम में कठोरता होती है, लेकिन मॄदुलता से मिली हुई| श्रीहरिनारायण रात भर बिस्तर पर पड़े तड़पते रहे, सोचते रहे, खुद को समझाने की कोशिश करते रहे मगर महसूस हुआ कि लाख प्रयत्न करके भी वह अपने पुत्र से कटे नहींं हैं| आज उनके प्रेम में करूण थी, पर वह कठोरता न थी, यह आत्मीयता का गुप्त संदेश है| स्वस्थ अग की परवाह कौन करता है| लेकिन जब उसी अंग पर चोट लग जाती है तो उसे ठेस और घक्के से बचाने का यत्न किया जाता है| श्रीहरिनारायण को भी किशन के बारे में सोचकर अपने शरीर का एक अग कटने जैसा दु:ख महसूस हो रहा था, उनके भीतर एक लावा सा फट पडा था| वह ज़ोर-ज़ोर से रोना व चीखना चाहते थे| उनके बिस्तर पर जैसे अनगिनत काटें उग आए हों और श्रीहरिनारायण भीष्म पितामह की तरह उस पर पड़े अपने पुत्र की मॄत्र्यु शैय्या देख रहे थे|
Reply
07-28-2020, 12:53 PM,
#33
RE: Romance एक एहसास
कितना सुंदर, कितना शरीफ बालक था| सारा मोहल्ला उस पर जान देता था| अपने-बेगाने सभी उसे प्यार करते थे ­ यहां तक कि उसके अध्यापक तक उस पर जान छिड़कते थे| कभी उसकी कोइ शिकायत सुनने में नहींं आयी| ऐसे बालक की माता होने पर सब सोनिया देवी को बधाई देते थे| आज उसका कलेजा टूकड़े-टूकड़े हो कर बिखर रहा था और वह तड़प रही थी| यदि अपने प्राण देकर भी वह किशन को बचा सकती तो इस समय अपना धन्य भागकितने आश्चर्य और शर्म की बात है कि इतने बड़े संसार में आज तक माँ–बाप की सेवा करने वालों में श्रवण कुमार को छोड़कर किसी का नाम जहन में नहीं आता| इसके विपरीत आत्महत्या करके माता पिता को दुःख देने वाले नौजवानों की संख्या बड़ी तेजी से बढ़ रही है|जब देखता हूँ बुरा हाल किसी आशिक का,

तब हाल फिर मेरा भी कुछ ठीक नहीं रहता|

सांयकाल रोहन कुलदीप से मिलने आया|

“हमें कुछ करना चाहिए… अब किशन अपनी बेगुनाही का इससे बड़ा क्या सबूत दे सकता है… कहते हैं मरते समय इन्सान झूठ नहीं बोलता और किशन की जबान पर बार-बार यही शब्द दोहराये थे कि वह निर्दोष है" रोहन ने कहा

"मेरा मन भी यही कहता है कि वह निर्दोश है, मगर मै ये दावे के साथ नहीं कह सकता क्योंकि मुझे अपने भाई पर भरोसा है मगर शराब पर नहीं और अगर एक पल के लिए सब बातें भुलाकर ये मान भी लें कि किशन निर्दोश है, तब भी हम ये साबित कैसे करें, सारे सबूत और गवाह उसके खिलाफ हैं,” बड़े ही बेबस लहजे में कुलदीप ने कहा|

“ये प्रदीप और राधिका कौन है जिनका नाम किशन बार-बार ले रहा था”

“भाई पूरा मामला तो मुझे भी नहीं पता मगर सागर बता रहा था कि राधिका से किशन की दोस्ती थी और प्रदीप के साथ एक बार उसका झगडा हुआ था मगर बाद मे उसके साथ भी किशन की दोस्ती हो गई थी”

“तब तो हो न हो इन दोनों मे से किसी एक का हाथ इसमे जरूर मिलेगा… मुझे शक है ये सब साजिश उस लडकी राधिका की है वरना कोइ ऐसे हालात मे अपने प्रेमी का साथ नहीं छोड सकती… मुझे उसके घर का पता चाहिए… अब मै सच्चाई का पता लगाये बिना चैन से नहीं बैठुंगा”|

“भाई मुझे तो उसके घर का पता मालुम नहीं है मगर शायद सागर हमंे बता सकता है|”

सागर से राधिका के घर का पता लेकर दोनोंं ने बहुत देर सलाह-मशविरा किया| राधिका व किशन के बारे मंे सागर से पूरा मामला जान लेने के पश्चात रोहन ने कुलदीप को अपना फैसला सुना दिया कि अगर किशन को कुछ हो गया तो उसकी चिता के साथ असली गुनहगारों की चिता भी जलेगी और अगर वह ऐसा करने मे नाकाम रहा तो फिर खुद उसकी चिता किशन की चिता के साथ जलेगी|

आधी रात का वक्त था| अंधेरी रात थी और काफी बेचैन इन्तजारी के बाद रोहन अपने जज्बात के साथ नंगी तलवार पहलू में छिपाये, अपने जिगर के भड़कते हुए शोलों को राधिका के खून से बुझाने के लिए आया हुआ है| आसमान में सितारे जगमगा रहे हैं और रोहन बदला लेने के नशे में राधिका के सोने के कमरे में जा चुका है|

कमरे में एक नाइट लैंप जल रहा था| जिसकी भेद भरी रोशनी में राधिका सो रही थी|

रोहन तलवार लेकर दबे पांव उसके पास पहुँचा| एक बार राधिका को आँख भर देखा| लेकिन राधिका को देखने के बाद उसके हाथ न उठ सके| जिसके साथ अपना घर बसाने के सपने देखें हो उसकी गर्दन पर छुरी चलाते हुए उसका हृदय द्रवित हो गया| उसकी आंखें भीग गयीं, दिल में हसरत भरी यादों का एक तूफान उठ गयाएक दिन असर देखना मेरे इश्क में होगा,

एक दिन हशर देखना मेरे इश्क में होगा|

कभी मिले तो बस इतना कहना उपरवाले से,

परेशां न हो, इन्तहां ये मेरे सबर की भी नहीं,

अगर अब भी बाकी जुल्म कुछ उसका होगा,

एक दिन असर देखना मेरे इश्क में होगा,

एक दिन हशर देखना मेरे इश्क में होगा|

हाँ, वही मोहिनी सूरत थी और वही इच्छाओं को जगाने वाली ताजगी| वही चेहरा जिसे एक बार देखकर भूलना असंभव था| वही गोरी बाहें जो कभी उसके गले का हार बनती थीं, वही फूल जैसे गाल जो उसकी प्रेम भरी आँखों के सामने लाल हो जाते थे| इन्हीं गोरी-गोरी कलाइयों में उसने कंगन पहनाने का वादा किया था|

हाँ, वही गुलाब के से होंठ, जो कभी उसकी मोहब्बत में फूल की तरह खिल जाते थे| जिनसे मोहब्बत की सुहानी महक उड़ती थी, और यह वही सीना है जिसमें कभी उसकी मोहब्बत और वफा का जलवा था, जो कभी उसकी मोहब्बत का घर था|

रोहन अपने अतीत में खोया हुआ था मगर उसके स्वाभिमान ने उसे ललकारा, जो आँखें उसके लिए अमॄत के छलकते हुए प्याले थीं आज वही आंखें उसके दिल में आग और तूफान पैदा कर रही थी|रूप उसी वक्त तक राहत और खुशी देता है जब तक उसके भीतर औरत की वफा की रूह हरकत कर रही हो वर्ना यह एक तकलीफ देने चाली चीज़ है, ज़हर है जो बस इसी क़ाबिल होती है कि वह हमारी निगाहों से दूर रहे|
Reply
07-28-2020, 12:53 PM,
#34
RE: Romance एक एहसास
स्वाभिमान और तर्क में सवाल-जवाब हो रहा था कि अचानक राधिका ने करवट बदली| रोहन ने फौरन तलवार उठायी मगर राधिका की आँखें खुल गई| वह घबराकर उठ बैठी परन्तु भय की चरम सीमा तो साहस ही होती है| हिम्मत करके वह बोली ­ क् क्…क… कौन| ”

“मैं हूँ रोहन” रोहन ने अपनी झेंप को गुस्से के पर्दे में छिपाकर कहा|

“कौन रोहन… चले जाओ यहां से वरना मैं शोर मचा दूंगी”

“कौन रोहन… हां… तुम नाम बदलकर किशन को फंसा सकती हो शीतल मगर शायद तुम भूल गई कि आखिर मजीत हमेशा सच्चाई की होती है… इसलिए तुम्हारा पर्दा-फाश करने के लिए ऊपरवाले ने मुझे भेज दिया है,”

“रोहन … मैं शीतल नहीं बल्कि उसकी छोटी बहन राधिका हूँ और तुम किस झूठ सच की बात करते हो… किशन के साथ जो कुछ हुआ है या होगा उसके लिए वह खुद जिम्मेदार है,”

“झूठ बोल रही हो तुम… म्म्म्मै ये साबित नहीं कर सकता लेकिन अगर किशन को कुछ हो गया तो कसम पैदा करने वाले की मैं तुम्हे जिंदा नहीं छोड़ूंगा” दांत पीसते हुए रोहन ने कहा|

“कुछ हो गया मतलब… क्या हुआ किशन को"|

"किशन हास्पीटलाइज्ड़ है उसने जहर खा लिया है| वह पुलिस की कैद से भाग गया था मगर अपनी जान बचाने के लिए नहीं बल्कि अपनी बेगुनाही साबित करने के लिए… क्योंकि अगर वह जान बचाने के लिए भागा होता तो उसे लौटकर घर आने की और जहर खाने की जरूरत नहीं थी… वैसे भी मरते हुए इन्सान झूठ नहीं बोलता… और उसने बार­-बार कहा वह बेगुनाह है"|

"क्या… हे भगवान" वह सिर पकड़ कर बैठ गई| इसका मतलब उसके साथ बहुत गलत हुआ

… रोहन मैं जानती हूँ कि तुम मेरे खून के प्यासे हो, लेकिन पहले मेरी बात सुन लो|

“मै राधिका हूँ शीतल की छोटी बहन… शीतल तो अब इस दुनिया में भी नहीं है,” दीवार पर लगी शीतल की तस्वीर की ओर ईशारा करते हुए राधिका ने कहा|

राधिका के मुख से ये शब्द सुनकर रोहन के मस्तिष्क को गहरा झटका लगा| उसके सारे शरीर में झुरझुरी सी दौड़ गई और उसकी कांपती नजर तस्वीर पर जा पड़ी| शीतल की तस्वीर पर फुलों की माला देखकर रोहन का दिल कांप उठा, जबान तालू से जा चिपकी|

राधिका ने रोहन को शीतल के बारे में वह सब कुछ बताया जो रोहन के आस्ट्रेलिया जाने के पश्चात् हुआ था|

रोहन की आँखें भर आई| उसका मन अब भी सच्चाई मानने के लिए पूर्णतया तैयार न था|

तस्वीर को उतारकर अपने कलेजे से लगाता हुआ वह कह अरे जालिम तू बेवफाइ न करती अगर,

तो जुदाइ एक जन्म की, कोइ बड़ा गम न था|

“तुम इतनी खुदगर्ज कैसे हो गई … मुझे कोइ गम न होता के तुम किसी दूजे के नाम का सिन्दूर लगाये मुझे दिखती, किसी दूजे के नाम का मगंलसुत्र ड़ालती… अगर मैं तुम्हें खुश पाता तो तुम नहीं जानती तुम्हे खुश देखकर मैं कितना खुश होता| मगर तुमने आत्महत्या करके मेरे प्यार को हरा दिया… तुमने मुझे यूं अकेला छोडकर जो बेवफाइ की है वह मेरे प्यार का, मेरे भरोसे का कत्ल है| तुम्हारे साथ जो हुआ वह बेशक दर्द भरा था मगर क्या तुम्हे अपने रोहन पर इतना भरोसा नहीं होना चाहिए था कि वह तुम्हे किसी भी हाल मे अपना लेगा” रोहन विचारों के बीहड़ ज़गंल में भटक रहा था, कि राधिका की आवाज सुनकर उसकी तंद्रा भंग हुई|

“मै जानती हूँ आप मेरी बहन शीतल से प्यार करते थे, मगर मुझे मालूम न था कि सीमा आपकी बहन है| किशन का वह लड़का होना भी जिसके साथ संजय का झगड़ा हुआ था मेरे लिए केवल एक संयोग था| मुझे तो यह सब बातें तब मालुम पड़ी जब सीमा की हत्या के बाद इन्सपैक्टर गुप्ता मुझसे मिले थे| लेकिन जब मुझे यह पता चला कि किशन ही वह शख्श है जिसने संजय को अपने प्यार को पाने में कामयाब नहीं होने दिया तो मेरे मन व बुद्धी के हर तर्क ने उसे मेरे परिवार की बर्बादी के लिए जिम्मेदार पाया| मेरा गुस्सा और घॄणा उसकी सच्चाई को पहचान न सके और मैंने जरूरत के समय किशन का साथ नहीं दिया| मगर सीमा के साथ जो भी हुआ वह चाहे प्रदीप ने किया हो या किशन ने मुझे उसके बारे में कोइ खबर नहीं, अगर अब भी आपको लगता है कि मैं खतावार हूँ तो आप जो सजा देना चाहें मैं भुगतने को तैयार हूँ|
Reply
07-28-2020, 12:54 PM,
#35
RE: Romance एक एहसास
राधिका की बातें सुनकर रोहन के हृदय में एक विचित्र करूणा उत्पन्न हुई| उसका वह क्रोध न जाने कहां गायब हलतीफेबाजी की तरह हिंसा भी हमारा ध्यान आकर्षित करती है| ओर अगर हिंसा बदले की भावना से प्रेरित हो तो हमारा मन कमजोर और पीड़ित के साथ हो जाता हैं, तब उसकी हिंसा भी हमें जायज लगने लगती है|

“इसका क्या अपराध है|यह प्रश्न आकस्मिक रूप से रोहन के हृदय में पैदा हुआ| इस समय मैं भी तो अपने दोस्त के लिए उतना ही विकल, उतना ही अधीर, उतना ही आतूर हूँ जितनी यह रही होगी| जिस तरह मैं अपने दिल से मजबूर हूँ, जो राधिका ने किया अगर वह गलत थी तो अब मैं भी तो वही कर रहा हूँ| ऐसे मेे मुझे इससे बदला लेने का क्या अधिकार है| रोहन अपने ही मन से तर्क वितर्क में उलझा था|

राधिका भी सिर झुकाये खड़ी थीलज्जा, याचना और झुका हुआ सिर, यह गुस्से और प्रतिशोध के जानी दुश्मन हैं|

आप यक़ीन मानो… राधिका के इन शब्दों ने रोहन की तंद्रा भंग की... अगर प्रदीप गुनहगार है तो मैं अगले 24 घंटों में उसे आपके कदमों में लाकर ड़ाल दूंगी|

अपने ही दिल से फैसला करो आप मुझे मारकर भी वो सुकून हासिल नहीं कर पाओगे जो सच्चाई सामने आने से मिलेगा|

“मगर अब आप मेरी मदद क्यों कर रही हो” रोहन उदास स्वर में बोला|

“मैने अब तक जो किया था वो शीतल दीदी के प्यार से विवश होकर किया था और अब जो करने को बोल रही हूँ वो मैं अपने प्यार के लिए करूंगी| मैं सच्चे दिल से कहती हूँ अगर एक बार मैं ये सुन लुं कि किशन बेगुनाह है फिर चाहे उसके लिए मेरी जान ही क्यों न चली जाये| तब मुझे कोइ गम न होगा|

बेबस सा होकर बिना कुछ बोले ही रोहन वहां से चला गया|

राधिका ने किशन के अहित का संकल्प करके उसका साथ नहीं दिया था और अब उसकी मनोकामना पूरी हो रही थी तब उसे खुशी से फूला न समाना चाहिए था, लेकिन ऐसा न था उसे दिल के किसी कोने में घोर पीडा हो रही थी| जैसी पीडा उसे अपने अपनो के लिए हुई थी| वह किशन को रूलाना चाहती थी मगर वह खुद रोती जा रही थी|औरत का मन दया का सागर है| जिसके स्वच्छ और निर्मल स्त्रोत को विपत्ति की क्रुर लीलाएं भी मैला नहींं कर सकतीं| इसीलिए औरत को देवी कहा जाता है|

प्रदीप को शरारत भरी नजरो से देखकर राधिका बोली- ­ प्रदीप मैं तुम्हें बधाई देने आई हूँ … आज हमारा दुश्मन हस्पताल में अपनी अन्तिम सांसे गिन रहा है|

“कौन किशन… | ”

“हाँ… किशन”

“मगर आप तो किशन से प्यार…” प्रदीप वाक्य पूरा न कर सका|

"हाँ… हाँ… मैं उससे प्यार करती थी और आज मैं शर्मिंदा हूँ कि मैने ऐसे घिनौने आदमी से प्यार किया था… हे भगवान मैं मर क्यों नहीं जाती, प्रदीप तन की खूबसूरती असली खूबसूरती नहीं होती, बल्कि खूबसूरत वह होता है जो दिल का साफ होता है|”

“मगर ऐसे इन्सान को खो देने का गम क्या इतना होना चाहिए, कि आप भगवान से मॄत्यु की मांग कर रही हैं… क्या ऐसा नहींं हो सकता आप उस शख्श को बिल्कुल भुला दें और अपनी जिन्दगी फिर खुशी से जियें|

“मगर कोइ कैसे…”

“राधिका जी एक साथी की चाह मुझे भी उतनी ही है जितनी आपकोººº हो सकता है इश्वर हमें एक साथ जीवन बिताने का मौका देना चाहता है| इश्वर ने हम दोनोंं के लिए यह रास्ता छोडा है जिस पर हम साथ चल सकते हैं|''प्रदीप ने राधिका के सम्मुख प्रस्ताव रखा|

राधिका सोच रही थी कि बकरा स्वयं शेरनी के सामने आ रहा है| कंधे पर हाथ के स्पर्श से वह पलटी ''वोºººवो मै…'' मुश्किल से दो शब्द कह पायी|

''चलिए कोइ बात नहीं… आपका जवाब ना है तब भी हम अच्छे दोस्त तो बन सकते हैं,”

“मैंने मना थोड़ी किया था… अब कोइ लड़की अपने मंुह से कैसे हाँ बोल दे" राधिका ने शरमाने का प्रयास किया|

"तो मतलब हाँ…” प्रदीप सोफे से उछलते हुए बोला| उछलने वाली बात ही थी|

प्रदीप ने कहा - अच्छा इजाज़त दी है तो इन्कार न करना| एक बार मुझे अपनी बांहों में ले लो| यह मेरी आखिरी विनती है|

राधिका के चेहरे पर एक सुहानी मुस्कुराहट दिखायी दी और मतवाली आँखों में खुशी की लाली झलकने लगी| बोली-आज कैसा मुबारक दिन है कि दिल की सब आरजुएं पूरी हो रही हैं|

“लेकिन कम्बख्त मेरी आरजुएं कभी पूरी नहींं होती…” प्रदीप इतना ही बोल पाया था कि राधिका ने उसके होठों पर उगली रख दी, ''कुछ मत कहो… इस बात का ज़िक्र भी मत करो|

''ठीक है जैसा तुम कहती हो, वैसा ही करूंगा लेकिन एक बार अपने हाथों को मेरी गर्दन का हार बना दो| एक बार… सिर्फ, एक बार मुझे कलेजे से लगाकर बाहों में भींच लो” यह कहकर प्रदीप ने बाहें खोल दी|

राधिका ने भी आगे बढ़कर प्रदीप के गले में बाहें ड़ाल दी और उसके सीने से लिपट गई| दोनोंं आलिंगन पाश में बंध गए| जैसे एक सागर दूसरे सागर में उतर रहा हो| यही मौका था प्रदीप के लिए – उसंने राधिका को बाहों में जकड़ लिया| राधिका की देह एक बार कांपी, फिर स्थिर हो गई| राधिका के साथ आलिंगन में बधे प्रदीप के लिए यह अदभुत उल्लास का पर्व था| इस समय उस पर एक मदहोशी छायी हुई थी|

“इस सीने से लिपटकर मोहब्बत की शराब के बगैर नहींं रहा जाता| आज एक बार फिर उल्फत की शराब के दौर चलने दो” प्रदीप ने कहा|
Reply
07-28-2020, 12:54 PM,
#36
RE: Romance एक एहसास
बस फिर क्या था राधिका भी तो यही चाहती थी… अंगूरी शराब के दौर चले और प्रदीप ने मस्त होकर प्याले पर प्याले खाली कर दिए| कुछ देर बाद मस्ती की कैफियत पैदा हुर्इ| अब प्रदीप का अपनी बातों पर व हरकतों पर अख्तियार न रहा| वह नशे में बड़बड़ाने लगा­ तुम नहीं जानती राधिका मैंने इस प्यार के लिए कैसी-कैसी परिशानियां उठाई| लड़कियां मेरी शक्ल से नफरत करती हैं… म्म्म्म्मैं सीमा को पसंद करता था और उसके एक इशारे पर अपना यह सिर उसके पैरों पर रख सकता था, सारी सम्पत्ति उसके चरणों पर अर्पित कर सकता था| मगर मेरी बदनसीबी देखो मुझे इन्हीं हाथों से उसका कत्ल करना पड़ा|

प्रदीप ने खुद ही सारे राज राधिका के सामने खोलकर रख दिये और चित लेट गया|

राधिका ने प्रदीप की यह सब बातें एक spy camera pen की सहायता से रिकार्ड कर ली|

प्रदीप कई घण्टे तक बेसुध पडा रहा| वह चौंककर होश में आया| मस्तिष्क में सैंकड़ों विचार चकरा गये| चेहरे पर हवाइयां उड़ गई| उसने उठना चाहा लेकिन उसके हाथ-पैर मजबूत बंधे हुए थे| उसने भौंचक्क होकर ईधर-उधर देखा|

रोहन व राधिका उसके पीछे खड़े थे| प्रदीप को माहौल समझते देर न लगी| उसका नशा फुर्र हो गया| वह राधिका को देखकर गुस्से से बोला - क्या तुम मेरे साथ दग़ा करोगी|

राधिका ने जवाब दिया - हाँ कुत्ते, इन्सान थोड़ा खोकर बहुत कुछ सीखता है| तुमने इज्जत और आबरू सब कुछ खोकर भी कुछ न सीखा| तुम मर्द थे| तुम्हारी दुश्मनी किशन से थी| तुम्हें उसके मुक़ाबले में अपनी ताकत का जौहर दिखाना था| स्त्री को तो हर धर्म में निर्दोष समझा गया है| लेकिन तुमने एक कमजोर लड़की पर दग़ा का वार किया, अब तुम्हारी जिन्दगी एक लड़की की मुट्ठी में है| मैं एक लहमे में तुम्हें मसल सकती हूँ मगर तुम ऐसी मौत के हक़दारएक मर्द के लिए ग़ैरत की मौत बेग़ैरत जिन्दगी से अच्छी है|

“आक… थू…” राधिका ने प्रदीप के मंुह पर थूक दिया|

रोहन ने भी अपने दर्द भरे दिल से प्रदीप को दुतकारा… साले हरामी … जब कोइ मर्द जिसे भगवान ने बहादुरी और हौसला दिया हो… एक कमजोर और बेबस लड़की के साथ फरेब करे तो उसे मर्द कहलाने तक का हक़ नहीदग़ा और फरेब जैसे हथियार औरतों के लिए होते हैं क्योंकि वे कमजोर होती है|

अपने को अपमानित महसूस कर प्रदीप ने रोहन को ललकारा- धोखे से मेरे हाथ बांधकर तू कौन­ सी मर्दानगी दिखा रहा है अगर एक बाप की औलाद है तो एक बार मेरे हाथ खोल, फिर देखते हैं मर्द कौन है|

“अबे कुत्ते की औलाद, राजपूत खानदान में पैदा हो जाने से कोइ सूरमा नहींं हो जाता और न ही नाम के पीछे ‘सिंह’ की दुम लगा देने से किसी में बहादुरी आती है ” प्रदीप के हाथ खोलते हुए रोहन ने कहा|

दोनोंं के बीच घमासान छिड़ गया| कुछ देर के दांव पेंच के पश्चात् रोहन ने प्रदीप को उठाकर पटक दिया और सीने पर सवार होकर पीटने लगा| इस वक्त रोहन बहुत खूखंर लग रहा था| फिर उठकर रोहन ने प्रदीप की गर्दन पकड़कर जोर से धक्का दिया| प्रदीप दो-तीन कदम पर औंधे मुह गिरा| उसकी आंखों के सामने अंधेरी आने लगी| उसके कपड़े तार–तार हो गए थे| होंठों से खून निकल कर ठुड़्ड़ी तक बह आया था|

रोहन अभी भी फाड़ खाने वाली नजरों से प्रदीप को घूर रहा था|

एकाएक प्रदीप के चेहरे पर चमक उभर आयी क्योंकिं उसके गैंग के लोगों का एक दल आ पहूंचा| पासा पलट गया था| राधिका ने सहमी हुई आंखों और धड़कते हुए दिल से उनकी ओर देखा मगर अगले ही पल रोहन का साथ देने के लिए कुलदीप भी आ पहुंचा| जिसे देखकर राधिका के चेहरे पर फिर वही आत्मविश्वास लौट आया|

“रोहन… छोड़ना नहीं सालों को…'' का जयकारा बोलकर कुलदीप भी रोहन के साथ प्रदीप के दल से भिड़ गया| कुलदीप व रोहन दोनों ही फिल्मों के नायकों की तरह खलनायक दल पर भारी पड़ रहे थे कि अब सुनील भी मोहल्ले के कुछ लोगों के साथ आ पहुंचा| सभी ने कन्धे पर लाठी रखी थी| जिसे देखकर प्रदीप और उसके दोस्त घबरा गये|

सभी ने अपने ड़ंड़े संभाले मगर इसके पहले कि वे किसी पर हाथ चलायें प्रदीप के सब गुन्ड़े फुर्र हो गये| कोइ इधर से भागा, कोइ उधर से| भगदड़ मच गई| दस मिनट में वहां प्रदीप के गैंग का एक भी आदमी न रहा|

अब बस कुलदीप और प्रदीप के बीच मलयुद्ध छिड़ने वाला था| कुलदीप किसी भूखे शेर की तरह अपने शिकार प्रदीप की तरफ बढ़ गया| उसकी आखों में खून उतर आया था| कुलदीप के मुकाबले प्रदीप अधिक शक्तिशाली था मगर कुलदीप दिल का कच्चा न था और आज तो उसके सिर पर अपने भाई की दूर्दशा व खानदान की बेइज्जती का बदला लेने का जुनून सवार था| दोनों एक दूसरे को कुश्ती के दांव पेचों से पठकनिया देते रहे| आखिर कुलदीप का जोश प्रदीप की ताकत पर भारी पड़ा| उसके बाएं हाथ का एक घूंसा कुछ ऐसे भीषण ढ़ंग से प्रदीप के चेहरे पर पड़ा कि एक लम्बी ड़कार निकालता हुआ वह दूर जा गिरा| जीवन में शायद पहली बार प्रदीप ने इतनी बुरी मार खायी थी| कुलदीप के सामने आज उसका हर दांव निष्फल रहा| परिणाम यह निकला कि प्रदीप लहुलुहान होकर धम्म से जमीन पर गिर पड़ा|

प्रदीप को अर्ध मूर्छित अवस्था में ही अस्पताल ले जाकर नसबन्दी का सफल आप्रेशन कराया गया| जिसके लिए बाद में उसे एक हजार रूपये नकद तथा एक कम्बल इनाम भी मिला| इसके बाद उसका मुँह काला करके गधे पर बैठाकर पूरे इलाके में घुमाया व बाद में उसे पुलिस के हवाले कर दिया गया|

सभी लोग खुश थे|

किशन को होश आया उसने अपने चारों तरफ अंधेरा देखा| उसने पाया कि यह जगह उसके सोने का कमरा नहींं था| उसने एक बार माँ कहकर पुकारा किन्तु अंधेरे में कोइ उत्तर नहींं आया| उसे अपनी छाती में दर्द उठना व सांस का रूकना याद आया| वह उठ बैठा मगर उसने खड़ा होने में असमर्थता महसूस की और पलंग पर गिर पड़ा| उसने हांफते हुए पुकारा­ “माँ … मेरे पास आओ माँ… मुझे लगता है मैं मरने वाला हूँ ”| उसकी आँखों के सामने अंधेरा छा गया ऐसे जैसे किसी लिखे हुए कागज के ऊपर स्याही फैल गई हो| उस क्षण किशन की सारी स्मरणशक्ति व चेतना को भी उसके जीवन की किताब के अक्षरों में भेद करना असंभव हो गया| उस समय उसको यह भी याद नहींं रहा कि उसकी माँ ने उसे अपनी ममता भरी आवाज से उसको आखिरी बार बेटा कहकर पुकारा था, या यह उसको प्रेम की दवा की आखिरी पुड़िया मिली थी जो उसकी इस संसार से मॄत्यु की अनजानी यात्रा पर देखभाल करेगी|

किशन को बचपन से लेकर अब तक की खास बातें एक­-एक करके याद आने लगी| एक पल में उसको स्कूल के दोस्त, खेल का मैदान व अपने चिर परिचित चेहरों की कतार दिखाई दी| उसे याद आया­ कैसे संजय की आत्महत्या के पश्चात् उसके परिवार का विनाश हो गया था| उसकी आँखों के सामने संजय के माता-पिता के बेबस चेहरे घूमने लगे| अब उसे आत्महत्या के परिणाम की भयावहता का अहसास होने लगा था| उसकी देह ठंड़ी हो रही थी| मुंह पर वह नीलापन आ रहा था जिसे देखकर कलेजा हिल जाता है और आँखों से आँसूं बहने लगते हैं|

किशन की आँखें ठहर गइ थी जिसे देखकर सोनिया देवी चीख पड़ी| किशन को मॄत घोषित करने से पहले ड़ाक्टरो ने उसे बचाने की अपनी अन्तिम कोशिश की… इस समय वहां मौजूद किसी भी शख्श को उसके बचने की आशा न थी मगर शायद मौत को धोखा देने में मजा आता है| वह उस वक्त कभी नहींं आती जब लोग उसकी राह देखते होते हैं| जब रोगी कुछ संभल जाता है, उठने बैठने लगता है, सबको विश्वास हो जाता है कि संकट टल गया, उस वक्त घात में बैठी हुइ मौत सिर पर आ जाती है| यही उसकी निष्ठुर लीला है| जैसे अब किसी को भी किशन के जीवित बचने की आशा न थी तो उसने किशन को अपना शिकार नहीं बनाया|

जी हाँ… यह संभव है कि कभी-कभी एक शरीर जो कि मॄत प्रतीत होता है| असल में जीवित होता है किन्तु सुषुप्तावस्था में या अचेतन होता है जो कुछ समय बाद फिर से जीवित हो सकता है| सच में किशन मरा नहींं था| किसी कारणवश वह भी मॄतप्राय: या अचेतन हो गया था किन्तु अब फिर से ठीक हो गया था| किशन को न जाने किसके आशीर्वाद या दुआ से वरदान स्वरूप विधाता ने उसका जीवन लौटा दिया था|
Reply
07-28-2020, 12:54 PM,
#37
RE: Romance एक एहसास
श्रीहरिनारायण ने रोहन को सामुहिक घोषणा करके अपने परिवार का सदस्य बनाते हुए, उसे अपना चौथा बेटा मान लिया| रोहन को उसके साथ हुई अन्होनी के लिए उसके मोहल्ले और शहर वासियों के साथ-साथ सारे देशवासियों की सहानुभुति व स्नेह तो मिला ही था| उसके धैर्य और बहादुरी के लिए उसे राजकीय सम्मकष्ट और विपत्ति मनुष्य को शिक्षा देने वाले श्रेष्ठ गुण हैं| जो साहस के साथ उनका सामना करते हैं, वे विजयी होते हैं| यह संसार रोहन जैसे मर्दों के लिये है| जिस दु:ख को हम सुनना भी नहीं चाहते, रोहन उसे भोग रहा था फिर भी वह अपनी माता के अधूरे सपने को पूरा करने के लिये दोबारा आस्ट्रेलिया गया|

दूसरों का सम्मान करना एक शिष्ट आचरण है और दूसरों से सम्मान पाना एक नशा| उम्र का एक पडाव ऐसा आता है जब हर व्यक्ति चाहता है समाज मे उसका अपना एक अलग व्यक्तित्व, अलग पहचान हो तथा लोग उसे सम्मान की दॄष्टि से देखें| लेकिन बहुत से ऐसे नौजवान हैं जो आत्महत्या करके अपने माता-पिता की आत्मा व उनकी सामजिक प्रतिष्ठा को छलनी कर जाते है| एक बेटे के लिए इससे बड़ा कोइ कलंक न होगा कि उसके बूढ़े और कमजोर माता-पिता को अपना जीवन निर्वाह करने के लिए लोगो के सामने भीख मांगने के लिए उन हाथों को फैलाना पड़े, जिनके सहारे कभी उसने चलना सीखा|

विधाता ने किशन को इस कलंक से बचा लिया, जिसका एहसास उसे बखूबी था|

कई दिन हो गए लेकिन वह राघिका से बात तक न कर सका था लेकिन अब वह उसके बिना भी अपने परिवार के लिए हंसी खुशी जीने लगा| इस वक्त वह कुलदीप व सुनील के साथ दुकान पर बैठा गप्पे हांक रहा था| अचानक सागर वहां आया और किशन को बाहर बुलाया|

“भाई राधिका ने आपके लिये पत्र भेजा है” सागर ने एक कागज किशन की ओर बढा दिया|

राधिका का नाम सुनते ही उसके दिल की धड़कन अनायास बढ़ गई‚ आंखे सजल हो गयीं|

किशन ने पत्र पढना शुरू किया –

प्रियतम,

मुझे क्षमा कर देना| मैने आप पर भरोसा न करके आपके प्यार का जो अपमान किया‚ उसके बाद मैं खुद को आपकी दासी बनने के योग्य भी नहींं समप्रेम की स्मॄति में प्रेम के भोग से कही अधिक माधुर्य और सागर है| आपने मुझे प्रेम का वह स्वरुप दिखाया, जिसकी मैं इस जीवन में आशा भी न करती थी| मेरे लिए इतना ही बहुत है| मैं जब तक जीऊगी, आपके प्रेम में मग्न रहूगी| लेकिन आपने आत्महत्या का प्रयास करके जो गलती की उसके सामने मेरी गलती कुछ भी नहीं| जीवन में भले ही कितनी ही उलझनें, कितनी ही तकलीफें, कितने ही दु:ख और कितने ही सुख हों हमेशा हौंसले और सकारात्मक सोच के साथ जीना चाहिये फिर प्यार तो समर्पण है, त्याग है, तपस्या है, जो आपने चाहने वाले पर सब कुछ न्योछावर कर देता है| प्यार हमेशा प्रेरणादायी होता है अगर हालात ऐसे हो भी गये थे कि हमें अलग­-अलग जीना पडता, तब भी सब कुछ वैसा ही चलते रहना चाहिए था जैसा आपके परिवार और आपके लिये शुभ होता, आपको कुछ ऐसा करके दिखाना चाहिये था जिससे मै तडप जाती कि मैने किसे खो दिया और आपके चाहने वालों को खुशी होती| जो प्यार साधना के तप को झेल चुका हो, उसे तो सारी कायनात मिलकर भी नहीं हरा सकती| परन्तु कभी–कभी हालात ऐसे हो जाते है जब दो प्रेमियों के मिलन की आवश्यकता को समझना या समझाना मुश्किल हो जाता है| तब समस्त जीवन बल्कि बहुत सी ज़िन्दगियों की बलि देने से अच्छा है| एक आदर्श की बलि दे देना|

इसीलिए मै आपसे दूर जा रही हूँ लेकिन मैं फिर आऊगी और हम फिर मिलेंगें, परन्तु केवल उसी दशा में जब तुम एक कामयाब इन्सान बन जाओगे| यही मेरे लौटने की एकमात्र शर्त है| मैं तुम्हारी हूँ और सदा तुम्हारी रहूगीººº|

तुम्हारी ,

राधिका
Reply
07-28-2020, 12:54 PM,
#38
RE: Romance एक एहसास
किशन राघिका से अलग होने की कल्पना से ही काँप उठा| वह राघिका से इतना जुड़ गया था कि उससे अलग वह अपना अस्तित्व ही स्वीकार नहीं कर पा रहा था| किशन ने खत अपने दिल के करीब जेब में रख लिया-मिलना तो हमें हर हाल में है,

देखना है, नसीब मिलाता कैसे है|

"अरे किशन, किस सोच में पड गए यार" किशन को सोच में पडा देख सुनील ने पूछा|

अनायास उसके दिल की धड़कन बढ़ गई, जिस स्थिति से वह बचना चाहता था वही उसके सामने आ गई| किशन कुछ भी नहीं बोल पाया|

''क्यों किशन, किसका खत है| '' कुलदीप ने पूछा|

''भैया‚ वह राधिका वह अच्छी लड़की है|'' सागर से बताये बिना न रहा गया|

''क्या कहा राधिका| ''

“जी भैया”

“क्या यह खत तुझे राधिका ने दिया है| ”

“जी हाँ भैया‚ शायद वह आज ही यह शहर छोडकर जा रही है|”

“शहर छोडकर उसे जाने कौन देगा‚ किशन मेरा भाई‚ मेरी जान है और मेरी जान की जान को मै जाने नहीं दूंगा” कहते हुए कुलदीप उठ गया|

“कुलदीप… रूक जाओ… कोइ जरूरत नहीं उस लडकी को रोकने की” सुनील ने कहा|

“यार सुनील ये तुम बोल रहे हो‚ क्या तुम्हारे लिये किशन की खुशी कोइ मायने नहीं रखती”

“किशन उस लडकी के बिना भी खुश है” सुनील ने कठोर शब्दों मे कहा|

“ठीक से देखो फिर बोलना…” कुलदीप ने किशन की उदासी भांप ली थी|

कुछ देर की बहस के बाद वे लोग बाहर आए| सुनील ने जेब से चाबी निकाल कर बाईक स्टार्ट की और पीछे देखने लगा| किशन भीतरी खुशी से उछलता हुआ सुनील के पीछे बैठ गया| उसे लगा उसकी प्रेम कहानी का अंत भी किसी हिन्दी फिल्म की तरह होगा, जिसमे वह नायक की तरह जाकर राधिका को रोक लेगा लेकिन कुलदीप ने किशन को बाईक पर से उतरने का इशारा करके उसे दुकान पर बैठने को कहा तथा वह खुद सुनिल के साथ चला गया|

किशन उदास था| वह केबिन में आकर बैठा ही था कि काउंटर पर रखे फोन की घंटी बजी| रिसिवर उठाया|

"हैलो, इज इट किशन| "

लगा, कानों में किसी ने मिश्री–सी घोल दी हो| बेहद मीठी आवाज,

"जी मैडम आपने सही पहचाना मगर आप हैं कौन”

“अच्छा जी‚ जिसका नमक खाया आज तुम उसी को नहीं पहचानते”

“न्न्न्नमक… क्क्क् कौन हो तुम| ”

“मै रितू बोल रही हूँ ”

“कौन रितू| ”

“जिसके लंच को तुम नाश्ते मे खा जाते थे‚ मै वही रितू हूँ ”

“रांग नम्बर|" कहकर किशन ने फोन रख दिया|

फोन डिस्कनेक्ट होते ही किशन इस सोच में पड गया कि आज अचानक रितू का फोन कैसे आ टपका… वह अभी इस बारे मे सोच ही रहा था कि फिर वही मिश्रीवाला फोन बजा- वही मिठास, वही चाशनी घुली कानों में लेकिन इस बार आवाज कुछ अलग लगी|

"हैलो, जी क्या यह श्रीहरिनारायण घी वालों का नम्बर है| "

"जी मैडम कहिये मै आपकी क्या सेवा कर सकता हूँ”

“आप कुलदीप जी बोल रहे हैं| ”

“जी नहीं, मै उनका छोटा भाई किशन बोल रहा हूँ ”

“किशन… कुछ सुना हुआ सा लगता है… हा… याद आया तुम वलुच्चे लफंगे बदमाश हो ना जिसने मुझे मेरे घर पर आकर प्रपोज किया था”

“क्क्क्कौन हो तुम| ”

“मै सुलेखा बोल रही हूँ ”

“कौन सुलेखा| ”

“रांग नम्बर" कहकर एक बार फिर किशन ने फोन रख दिया|

“ये हो क्या रहा है” किशन माथे पर हाथ रखकर बैठ गया| हालांकि वह सुरीली आवाज काफी देर तक कानों में गंूजती रही, लेकिन राधिका के बारे मे सोचने की वजह से यह बात जल्दी ही उसके दिमाग से उतर गई|

अचानक उसे किसी के उसके सामने होने का एहसास हुआ| राधिका को सामने पाकर वह जाने क्यों खुद को सहज नहीं पा रहा था|

वह एकदम उसके सामने खड़ी थी|

एकाएक यह विचार किशन के दिमाग मे कौंध गया – अरे यह सब मैने राधिका को ही तो बताया था|

“तो यह सब आपकी शरारत थी” किशन मुस्कुराया|

वह खिलखिलाई| लगा, सच्चे मोतियों की माला का धागा टूट गया हो और उसके मोती साफ–सुथरे फर्श पर प्यारी–सी आवाज करते हुए बिखर गए हों|

"आपकी आवाज में गजब की मिठास है|" किशन ने कहा

आज राधिका ने बनने संवरने में कोइ कसर नहीं छोड रखी थी|

किशन ने उसे गौर से देखा तो ठगा–सा खडा रह गया|

"हाँ, कहिए, मैने फोन पर आपकी बात पूरी बात नहीं सुनी"

"कुछ नहीं, सिर्फ एक अच्छे इन्सान को धन्यवाद देना चाह रही थी|"

"अच्छा इन्सान… इतनी जल्दी ये अच्छा इन्सान बन गया… जब हम गये थे तब तक तो ये इतना अच्छा नहीं था” मुस्कुराते हुए सुनिल ने कहा|

कुलदीप‚ सुनील व सागर को देखकर किशन समझ गया कि यह इन सबकी सोची समझी शरारत थी|

सब लोग बहुत खुश थे|
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Star Raj Sharma Stories जलती चट्टान desiaks 72 6,556 Yesterday, 01:29 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up bahan sex kahani बहना का ख्याल मैं रखूँगा sexstories 87 521,168 08-12-2020, 12:49 AM
Last Post: desiaks
Star Incest Kahani उस प्यार की तलाश में sexstories 84 181,607 08-10-2020, 11:46 AM
Last Post: AK4006970
  स्कूल में मस्ती-२ सेक्स कहानियाँ desiaks 1 12,827 08-09-2020, 02:37 PM
Last Post: sonam2006
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा desiaks 18 48,020 08-09-2020, 02:19 PM
Last Post: sonam2006
Star Chodan Kahani रिक्शेवाले सब कमीने sexstories 15 67,927 08-09-2020, 02:16 PM
Last Post: sonam2006
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी desiaks 3 40,735 08-09-2020, 02:14 PM
Last Post: sonam2006
  पारिवारिक चुदाई की कहानी Sonaligupta678 20 182,424 08-09-2020, 02:06 PM
Last Post: sonam2006
Lightbulb Hindi Chudai Kahani मेरी चालू बीवी desiaks 204 38,092 08-08-2020, 02:00 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Hindi Porn Story द मैजिक मिरर sexstories 89 168,859 08-08-2020, 07:12 AM
Last Post: Romanreign1



Users browsing this thread: 2 Guest(s)