Thriller Sex Kahani - कांटा
05-31-2021, 12:00 PM,
#1
Thumbs Up  Thriller Sex Kahani - कांटा
कांटा

ब्लू लाइन कंस्ट्रक्शन का शानदार आफिस नेहरू प्लेस जैसे हाई प्रोफाईल कामर्शियल इलाके में एक इमारत की एक तीसरी मंजिल पर स्थित था।

ब्लू लाइन इंस्ट्रक्शन रियल एस्टेट से जुड़ी राजधानी दिल्ली की एक जानी-मानी कम्पनी थी, जिसका मालिक जानकी लाल था।

जानकी लाल उस वक्त अपने आलीशान केबिन में मौजूद था। वहां वह एकदम अकेला था, और एक ऐसे टेंडर की फाइल को स्टडी कर रहा था जो आने वाले कल में खुलने वाला था। एक सौ अस्सी करोड़ रुपये का वह टेंडर मौजूदा हालात में उसके लिए बेहद अहमियत रखता था और जिसका उसकी कम्पनी को हासिल होना बेहद जरूरी था. वरना जिस बरे वक्त से उसकी कंपनी उस वक्त गुजर रही थी, उस टेंडर के न मिलने की सूरत में उसकी रही-सही साख भी खत्म हो जाने वाली थी। हाईवे के रोड कंस्ट्रक्शन से जुड़ा एक टेंडर आज भी खुलने वाला था जो कि महज सत्तर करोड़ का था, जो उसने पिछले माह डाल रखा था और जिसे अपने हक में पाने के लिए उसने कारपोरेट बिजनेस से जुड़े सारे कानूनी और गैर-कानूनी हथकंडे भी अपनाए थे और उसे यह आश्वासन भी था कि वह टेंडर उसी की कम्पनी के हक में पास होने वाला था, फिर भी वह आश्वस्त नहीं हो सका था क्योंकि रियल ऐस्टेट के क्षेत्र से जुड़ी उसकी एक करीबी कट्टर प्रतिद्वंद्वी कम्पनी इस मामले में उसे कड़ी टक्कर दे रही थी।

ड्रीम ड्रेगन नाम की वह कंस्ट्रक्शन कम्पनी उसके सारे टेंडर हथियाने में कामयाब होती आ रही थी। बीते दस महीने में ड्रीम ड्रेगन ने उसके हाथ एक भी टेंडर नहीं लगने दिया था।

अपने चीफ एकाउंटेंट अजय से उसने बोल रखा था कि टेंडर के खुलने की खबर जैसे ही पास ऑन हो, उसे फौरन उसके नतीजे की खबर की जाए। उस वक्त वह क्योंकि व्यस्त था और किसी गहरी सोच के हवाले था इसलिए उसने अपना । मोबाइल ऑफ कर रखा था और रिसेप्शन पर ताकीद कर दी थी कि अगले एक घंटे तक उसे कोई भी फोन कॉल ट्रांसफर न की जाए। तभी उसके केबिन के दरवाजे पर दस्तक हुई। जरूर उसका एकाउंटेंट अजय आया था।
.

उसने फाइल से अपना चेहरा उठाया और अपने नजर के चश्मे को दुरुस्त करता हुआ सहज-स्वाभाविक भाव से बोला "कम इन।"

केबिन का दरवाजा फौरन खुला और फिर कोई अंदर दाखिल हुआ। लेकिन जानकी लाल को उसका चेहरा नजर न आया। वह तो उस बड़े से गुलदस्ते के पीछे छिपा हुआ था जो कि उसने अपने हाथ में उठा रखा था।

जानकी लाल के माथे पर बल पड़ते चले गए थे। वह शख्स उसका चीफ एकाउंटेंट अजय तो हरगिज भी नहीं हो सकता था। वह तो कोई उसे सरप्राइज देने का इरादा रखने वाला शख्स ही मालूम पड़ता था, जो कि अजय नहीं था। वह उससे इतना बेतकल्लुफ नहीं था।
+
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply

05-31-2021, 12:00 PM,
#2
RE: Thriller Sex Kahani - कांटा
“क...कौन हो तुम?” जानकी लाल ने असमंजस भरे स्वर में रहस्यमय आगंतुक से पूछा। वह अपलक सामने मेज के पार खड़े उस शख्स को देखने लगा था। लेकिन उसका चेहरा देखने में वह अभी तक भी कामयाब नहीं हो सका था।
.
“जन्मदिन मुबारक हो।” तभी गुलदस्ते के पीछे से स्वर उभरा।

जानकी लाल के होठों से निःश्वास निकल गई। उसे याद आया आज सका जन्मदिन था और उससे पहले भी उसे उसके कुछ करीबी लोग विश कर चुके थे। उसे लगभग इसी तरह उन लोगों ने गुलदस्ते भेंट किये थे।

“शुक्रिया।” उसके माथे पर पड़े बल गायब हो गए थे लेकिन असमंजस तब भी नहीं गया था। उसने कहा “अब जरा अपनी सूरत भी दिखा दो भाई।"

“मौत का कोई चेहरा नहीं होता स्साले मोटे भैंसे।” सहसा आगंतुक का कर्कश स्वर उसके कानों में पड़ा।

जानकी लाल बुरी तरह चौंका। उसके जेहन में एकाएक कुछ जोर से चीखा था। उसका हाथ अनायास ही मेज पर लगे पुश बटन पर गया। इसी के साथ ही वह झटके से उछलकर खड़ा हो गया।

ठीक उसी पल गुलदस्ते को पकड़े हाथों में जैसे जादू के जोर से रिवॉल्वर प्रकट हुआ। फिर इसके पहले कि जानकी लाल को कुछ करने का मौका मिल पाता।
धांय...धांय...धांय...ऽऽऽ.....!
रिवॉल्वर ने शोले उगलना शुरू कर दिया। तीनों शोले जानकी लाल के जिस्म में धंस गए। उसके हलक से दर्दनाक चीख उभरी। उसका जिस्म लहराकर पीछे अपनी कुर्सी से टकराया, फिर वह एक झटका सा खाकर ही ढेर हो गया। आगंतुक ने गुलदस्ता एक ओर उछाल दिया।

वह एक उल्टे तवे जैसी रंगत वाला शख्स था, जिसकी उम्र पैंतीस साल से ज्यादा नहीं थी। उसका चेहरा चेचक के गहरे दागों से भरा था और बाएं गाल पर कटे का निशान मौजूद था। उसने एक आखिरी निगाह जानकी लाल पर डाली जो कि बेहरकत हो चुका था और अपने ही खून में नहाया हुआ कुर्सी पर बेहरकत पड़ा था।

फिर वह फुर्ती से पलटा और रिवॉल्वर संभाले हुए तेजी से दरवाजे की ओर लपका। वह दरवाजे के करीब पहुंचा और दरवाजा खोलने के लिए उसने उसका हैंडल अभी पकड़ा ही था कि एकाएक भड़ाक की आवाज के साथ दरवाजा अपने आप खुल गया और कमांडो जैसी चुस्ती-फुर्ती वाला एक आदमी नजर आया। उसके हाथ में भी रिवॉल्वर था, जो उसने बेहद चौकन्ने भाव से सामने आगंतुक की ओर तान रखा था।

उसके पीछे उसके जैसे ही दो अन्य शख्स मौजूद थे। वह भी हथियारबंद और पूरी तरह से चौकन्ने थे। उनके हाथ में मौजूद रिवॉल्वरों के रुख भी आंगतुक की ओर थे।

वह लोग जानकी लाल के प्राइवेट सिक्योरिटी दस्ते के जवान थे, जिसका नेतृत्व आगे मौजूद आदमी कर रहा था। उस आदमी का नाम अनीस था और वह उस अलार्म के जवाब में अपने दोनों जोड़ीदारों के साथ भागता हुआ पहुंचा था, जो कि जानकी लाल द्वारा वहां एक क्षण पहले मेज पर लगा पुश बटन दबाये जाने की सूरत में बाहर बजने लगा था।

अनीस की आदतन चौकन्नी निगाहें हमलावर तथा उसके पीछे मौजूद केबिन में तेजी से पैनी हुईं। अंदर मौजूद जानकी लाल का कुर्सी पर पड़ा खून से लथपथ जिस्म देखकर वह पलभर के लिए सन्न रह गया। दूसरे ही पल उसकी आंखों में खून उतर आया।
Reply
05-31-2021, 12:00 PM,
#3
RE: Thriller Sex Kahani - कांटा
हमलावर को समझने में पलभर भी न लगा था कि खेल बिगड़ चुका था। उसका शिकार ढेर होते-होते भी अपना काम कर गया था और उसके वह अंगरक्षक बजने वाले अलार्म के जवाब में ही निश्चित रूप से वहां आए थे। अब बचने का केवल एक ही तरीका था।
धांय...!
उसने बिना एक भी पल गंवाये अनीस की ओर फायर झोंक दिया। प्रतिद्वंद्वी की तरफ से उस हमले के लिए अनीस पूरी तरह तैयार था। वह फुर्ती से एक ओर को झुक गया।

लेकिन फासला बेहद कम होने की वजह से वह मात खा गया। परिणामस्वरूप गोली उसके बाएं कंधे में धंस गई। उसके हलक से घुटी-घुटी सी चीख निकल गई। लेकिन दूसरे ही पल उसने भी गोली चला दी।

धांय ...! खुद जख्मी होने के बावजूद उसका निशाना चूका नहीं था। उसकी चलाई गोली हमलावर के पेट को फाड़ती चली गई।

धांयऽ...धायऽऽ...!
+
मौके की नजाकत देखकर पीछे मौजूद उसके दोनों जोड़ीदारों के भी रिवॉल्वर गर्ज उठे।
गोलियों से छलनी हमलावर केबिन के खुले दरवाजे पर ही ढेर हो गया।

अनीस के हाथ से उसका रिवॉल्वर छूट गया। उसने अपने कंधे के जख्म को कसकर दबा लिया। उसका चेहरा पीड़ा से विकृत हो गया था। बायां हिस्सा खून से तरबतर हो गया था।
|
+
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
05-31-2021, 12:00 PM,
#4
RE: Thriller Sex Kahani - कांटा
“आ...आप ठीक तो हैं न सर?” हकबकाये से एक जोड़ीदार ने उससे पूछा और तेजी से उसकी ओर लपका।

“म...मैं ठीक हूं बेवकूफ।” अनीस अपनी पीड़ा को पीता हुआ झुंझलाया सा बोला “लाल साहब को देखो।"

“ओह।” उसके जेहन को तब जैसे एकाएक झटका सा लगा। फिर वह दोनों जानकी लाल की ओर लपके जो अपनी कुर्सी पर निश्चेष्ट सा पड़ा था। दोनों उस पर झुक गए। एक ने उसकी कलाई थामकर नब्ज चेक की।

“न....नब्ज चल रही है।” फिर वह मिश्रित उत्तेजना से बोला “फ...फौरन एम्बुलेंस को फोन करो। लाल साहब को फौरन अस्पताल पहुंचाना होगा। हरी अप।”
-

दूसरे ने फौरन अपना मोबाइल निकाला और उस पर एम्बुलेंस का नंबर पंच करने लगा। तब तक आफिस का बाकी स्टॉफ भी वहां जमा हो चुका था। उस अप्रत्याशित वाक्ये पर सारे स्टॉफ में हड़कंप मच गया था जबरदस्त हड़कम्प!
………………………………………
बात ही कुछ ऐसी थी।
राजधानी दिल्ली के प्रतिष्ठित बिल्डर जानकी लाल पर एक बार फिर जानलेवा हमला हुआ था। गुजरे एक बरस में उसकी जान लेने की वह तीसरी कोशिश की गई थी।

मगर यह पहला मौका था जबकि हमलावर मौके पर ही ढेर हो गया था।

यह अलग बात थी कि उस तीसरी कोशिश का क्या नतीजा निकलने वाला था। जानकी लाल की नब्ज भले ही चल रही थी लेकिन उसे एक-दो नहीं, पूरी तीन गोलियां लगी थीं। इसके बावजूद अगर वह इस बार भी बच जाता तो वह किसी करिश्मे से कम नहीं था।

तिहाड़ जेल के विशाल फाटक के मध्य स्थित वह खिड़कीनुमा दरवाजा खुला, जिससे कि एक बार में केवल एक ही आदमी बाहर निकल सकता था। फिर उस दरवाजे से जो इकलौता आदमी बाहर निकला, वह सुमेश सहगल था। सुमेश सहगल पैंतालीस साल की उम्र का भारी कद-काठी वाला शख्स था। जिसके खिचड़ी बाल और खिचड़ी दाढ़ी उस वक्त काफी बढ़े हुए थे। गहरी आंखों में एक शून्य और सन्नाटा तैर रहा था। वह पिछले सात सालों से उस जेल में कैद था और आज अपनी सजा पूरी करके बाहर निकला था।

अदालत ने उसे जो सात साल की सजा सुनाई थी, उसमें अभी कुछ महीने बाकी थे। लेकिन एक तो वह कोई आदी मुजरिम नहीं था, वह उसका पहला जुर्म था, दूसरे, जेल में उसके अच्छे चाल-चलन के कारण उसे उसकी सुनाई गई सजा के निर्धारित वक्त से कुछ महीने पहले ही छोड़ दिया गया था। मगर उस बात की खबर सुमेश सहगल ने अपने घर वालों को नहीं होने दी थी, इसीलिए उसके घरवालों में से कोई भी उस वक्त उसे पिकअप करने नहीं आया था।

वह खबर उसने केवल एक ही शख्सियत को दी थी, जिसके बारे में उसे पूरा यकीन था कि वह वहां जरूर आने वाली थी।
वह शख्सियत संजना थी। जो कि ड्रीम ड्रैगन की मुलाजमत में काम करती थी।

सहगल ने अपनी बढ़ी हुई खिचड़ी दाढ़ी पर हाथ फिराया और फिर आजाद हवा में सिर उठाकर एक भरपूर सांस ली। फिर उसने सामने दूर तक खोजपूर्ण निगाहें दौड़ाईं। आगे थोड़ा फासले पर एक सड़क गुजरती थी, जिस पर वाहन आ-जा रहे थे। वहां कहीं भी उसे संजना नजर न आई। लेकिन उसके चेहरे पर रत्ती भर निराशा के भाव न आए।
Reply
05-31-2021, 12:00 PM,
#5
RE: Thriller Sex Kahani - कांटा
“आएगी।" वह बड़े आत्मविश्वास के साथ होठों ही होठों में बुदबुदाया जैसे कि उसने खुद को यकीन दिलाया था “वह जरूर आएगी। सहगल जिसको बुलाए, वह न आए, ऐसा कभी नहीं हो सकता।"

जेल की खुली खिड़की बंद हो चुकी थी। सहगल मजबूत कदमों से आगे बढ़ा। उसके कदमों में हल्की सी लड़खड़ाहट साफ झलक रही थी, जो कमजोरी की वजह से भी हो सकती थी। वह आगे मुख्य सड़क पर पहुंचा।

तभी एक काली वैगन आर उसके एकदम कदमों के पास पहुंचकर रुकी। सहगल ठिठककर खड़ा हो गया।

वैगन आर का उसकी ओर मौजूद पैसेंजर डोर का ग्लास नीचे सरक गया।

सहगल ने झुककर वैगन आर में अंदर झांका।

ड्राइविंग सीट पर स्टेयरिंग के पीछे एक युवती मौजूद थी। उस युवती की उम्र पच्चीस-छब्बीस साल के लगभग थी। वह निहायत ही हसीन तथा दिलफरेब हुस्न की मलिका थी। उसके नाक-नक्श बेहद तीखे थे। दूध जैसा गोरा रंग, उभरा वक्ष स्थल, भरा-भरा सा जिस्म । उसने नीली डेनिम जींस और बिना बांहों वाला स्लीवलैस टॉप पहन रखा था, जिसमें उसका गोरा बदन धवल चांदनी की तरह चमक रहा था। वह गजब की हसीन और सैक्सी लग रही थी। सहगल को उसे पहचानने में पलभर भी न लगा और उसे पहचानते ही उसके होठों से निःश्वास निकल गई। होठों पर स्वतः ही एक खास किस्म की मुस्कान उभर आई।
अर्थपूर्ण मुस्कान !
वह हसीना कोई और नहीं बल्कि संजना थी।

"हल्लो बॉस ।” वह इठलाकर अदा से बोली “आजादी मुबारक।”

“शुक्रिया।” सहगल पूर्वतः मुस्कराता हुआ बोला।

"कम ऑन।” संजना ने कहा।

सहगल ने तत्क्षण सहमति में सिर हिलाया और कार का दरवाजा खोलकर वह संजना की बगल में पैसेंजर सीट पर बैठ गया, फिर उसने भड़ाक से दरवाजा बंद कर दिया।

संजना ने फौरन कार आगे बढ़ा दी।

“काफी स्मार्ट लग रहे हो बॉस ।” संजना उस पर नजर डालती हुई शरारत से बोली।

“वह तो खैर मैं हूं।” सहगल अपनी हथेली की पीठ बढ़ी हुई दाढ़ी पर फिराकर खिसियाए भाव से हंसा और खिड़की से बाहर देखने लगा।

“सात साल..." संजना विंडस्क्रीन पर नजरें गड़ाये हुए गियर बदलकर बोली “पूरे सात साल हो गए। बहुत लम्बा वक्फा होता है यह। कैसे कटे होंगे यह दिन और...?" वह एक क्षण ठिठकी और सहगल पर एक अर्थपूर्ण निगाह डालने के बाद फिर उसने अपना वाक्य पूरा किया “यह काली रातें?"

“आज बैलेंस बराबर हो जाएगा।” सहगल ने गरदन मोड़कर उसे देखा। उसके देखने का अंदाज ऐसा था जैसे कि कोई भूखा बिल्ला सामने रखे मलाई से भरे कटोरे को देखता है।

"वह कैसे?" संजना ने उलझकर पूछा। शायद उसने उलझने का अभिनय किया था।
Reply
05-31-2021, 12:00 PM,
#6
RE: Thriller Sex Kahani - कांटा
“सारी कसर आज एक ही रात में पूरी कर दूंगा।"

“स...सात साल की कसर एक ही रात में पूरी कर दोगे?" संजना चिंहुक कर बोली। उसके खूबसूरत चेहरे पर हैरानी के भाव आ गए थे, जिसमें हल्का खौफ भी शामिल था।

“और क्या?” सहमत ने उसकी जांघ पर चिकोटी काटी और फिर बेहद अश्लील भाव में हंसा।

“तौबा। फिर क्या हालत होगी? सुबह तो बिस्तर पर मेरी लाश ही मिलेगी।" संजना ने वह लफ्ज कुछ ऐसे ढंग से कहे कि सहगल की सात साल की उदासी पलक झपकते ही गुम हो गई। वह उन्मुक्त भाव से ठहाका लगा उठा।

“मैं तुम्हारे मिजाज में यही तब्दीली देखना चाहती थी बॉस ।" संजना बोली “उदास इंसान केवल उदासी ही घोल सकता है। मेरे को खुशी है कि मैं कामयाब हुई।” ।

"इसका मतलब तो यह हुआ मेरी जान कि तुम लाश बनने की पक्का इरादा किए बैठी हो।"

“ऐसा ही समझ लो। लेकिन खबरदार, दोबारा चुटकी मत काटना। वहां पर तो हरगिज नहीं जहां पर अभी काटा था।"

"हा..हा... हा... नहीं काटूंगा। तब तो आज सचमुच तुम्हारी खैर नहीं है।"

“होनी भी नहीं चाहिए।” संजना बेझिझक बोली।

“इतने सालों में काफी दिलेर हो गई हो।”

“और जवान भी।” उसने तनकर अपना पहले से फूला सीना और फुलाया।

"वह तो नजर आ रहा है।"

“किधर चलने का इरादा है? अपने घर जाने का तो तुम्हारा कोई इरादा मालूम नहीं पड़ता।"

“जाहिर सी बात है।”

"तुम्हारे घर वालों को तो तुम्हारी रिहाई की भनक भी नहीं होगी?”

“यह भी कोई पूछने की बात है। अगर तुमने इत्तला दे दी हो तो अलग बात है।"

“मैं भला क्यों इत्तला देने लगी।"

“तो फिर बेफिक्र रहो।"

“फिलहाल किधर चलने का इरादा है?"
Reply
05-31-2021, 12:00 PM,
#7
RE: Thriller Sex Kahani - कांटा
"जहां मर्जी आए ले चलो। समझ लो कि इस वक्त मैं पूरी तरह तुम्हारे हवाले हूं और आज मेरा कोई ठिकाना नहीं है?" वह एक क्षण ठिठका फिर वह कुत्सित हंसी हंसता हुआ आगे बोला “तुम्हारे पहलू के सिवा।"

“म...मैं अपने फ्लैट पर चलती हूं।"

“यानि कि सचमुच ही लाश बनने को उतावली हो। अभी तो दिन भी नहीं डूबा।"

“आई डोंट माइंड। उसके बाद तुम्हारा क्या इरादा है?"

“इरादा तो...!” सहगल के चेहरे पर एकाएक धीमा तूफान उमड़ा। उसके चेहरे का उल्लास पलक झपकते ही गायब हो गया था “बस एक ही है। जो तुम्हें मालूम है।"

“क...क्या ?” वह हकलाई और उलझकर बोली “क्या मालूम है?”

“अपने दुश्मनों की तबाही।” सहगल एकाएक कहर भरे स्वर में बोला “अपने उस दुश्मन की तबाही, जिसकी वजह से बेगुनाह होकर भी मुझे सात सालों तक जेल में रहना पड़ा।"

“तुम बेगुनाह नहीं थे।"

“जिस गुनाह के लिए मुझे यह जेल मिली, कम से कम वह गुनाह तो मैंने हरगिज नहीं किया था।"

“जानती हूं। वैसे इस मामले में तुम्हारे लिए एक खुशखबरी है।"

"क्या खुशखबरी है?"

"तुम्हारा दुश्मन इस वक्त अस्पताल में है।"

“अरे। क्या हुआ उसे?”

संजना ने बताया।

“नहीं मरेगा।" सहगल एकाएक जबड़े भींचकर बोला “इतनी आसानी से वह नहीं मरने वाला। बड़ा सख्तजान और मुकद्दर का सिकंदर है वह। देख लेना, वह केवल मेरे हाथों से ही मरेगा।"

“हूं।” संजना ने हुंकार भरकर बात बदली “नैना मैडम से मिलना नहीं चाहोगे?"

“न..नैना से। मगर क्यों?"

"तुम्हारी पुरानी नौकरी तो कब की जा चुकी है। शायद तुम्हें नई नौकरी की जरूरत हो। और तुम्हारी यह जरूरत मौजूदा हालात में केवल नैना मैडम ही पूरी कर सकती है।"

“नैना ने तुमसे ऐसा बोला।”

“नहीं। वह क्यों मुझे बोलने लगीं। लेकिन....।"

“मुझे किसी नौकरी की जरूरत नहीं है।” वह संजना की बात काटता हुआ बोला “मेरे पास इतना पैसा है कि दोनों हाथों से लुटाकर भी खर्च नहीं कर पाऊगा।"

"जैसी तुम्हारी मर्जी।” उसने लंबी सांस छोड़ी।

“तुम अपनी सुनाओ। तुम्हारे काम की क्या प्रोग्रेस है। तुम्हारा शिकार हाथ में आ गया या फिर अभी हाथ से बाहर है?"
Reply
05-31-2021, 12:01 PM,
#8
RE: Thriller Sex Kahani - कांटा
“तुम अपनी सुनाओ। तुम्हारे काम की क्या प्रोग्रेस है। तुम्हारा शिकार हाथ में आ गया या फिर अभी हाथ से बाहर है?"

"बॉस...।" संजना ने विंडस्क्रीन से एक पल के लिए नजर हटाकर सहगल को देखा, फिर वापस विंडस्क्रीन पर निगाह जमाती हुई इतराकर बोली “तुम्हें क्या लगता है, मैं कभी नाकाम हो सकती हूं?"

“यानि कि शिकार हाथ में आ गया?” सहगल ने चैन की सांस ली थी।

“जतिन पूरी तरह से मेरी जुल्फों के साये में कैद हो चुका है। हमारा शिकार तुम यूं समझ लो कि मेरी मुट्ठी में है। तुम इत्मिनान रखो, वह मेरे से बाहर नहीं जा सकता।"

“तो फिर समझ लो कि हमारी मंजिल ज्यादा दूर नहीं है।"

"तुम्हारी मंजिल या मेरी मंजिल ?" उसने अर्थपूर्ण निगाहों से सहगल को देखा।

"दोनों की।"

“यह कैसे हो सकता है? हम दोनों की मंजिल अलग-अलग है। तुम अपने दुश्मन से बदला लेना चाहते हो जबकि मेरा कोई दुश्मन नहीं है।"

“तुम्हारी मंजिल का रास्ता मेरी मंजिल से होकर ही आगे जाता है जानेबहार, भरोसा करना सीखो।"

“मुझे तुम पर पूरा भरोसा है।"

“जतिन पर तुम्हें हर पल बेहद कड़ी निगाह रखनी है।" सहगल ने उसे जैसे हुक्म दिया था “उसे पूरी शिद्दत से वॉच करना है और उसके पल-पल की रिपोर्ट मुझे देनी है।"

“वह तो मैं बराबर कर रही हूं। एक महबूबा से बेहतर उसके महबूब की जासूसी दूसरा कौन कर सकता है। और उसकी रिपोर्ट भी तुम्हें दे रही हूं, जेल में देने जाती रही हूं। कहीं जतिन को मालूम हो गया कि मैं उसके खिलाफ क्या कर रही हूं तो जानते हो क्या होगा?”

"तो मैं तुम्हारे हुस्न पर लानत भेजने पर मजबूर हो जाऊंगा जिस पर तुम इतना इतराती फिरती हो।"

“वह वक्त नहीं आएगा।"

"शुक्र है। फिलहाल यह सिलसिला तुम्हें जारी रखना होगा।"

"इस सिलसिले का क्लाइमेक्स कब आएगा?"

“अब जबकि मैं बाहर आ गया हूं तो समझ लो कि क्लाइमेक्स भी आ पहुंचा है।"

"ओह।” उसके होठों से खुद ही निकल गया। उसने आगे कुछ कहना चाहा लेकिन फिर जाने क्या सोचकर अपने होंठ भींच लिए।
Reply
05-31-2021, 12:01 PM,
#9
RE: Thriller Sex Kahani - कांटा
"शायद तुम कुछ कहना चाहती हो?" सहगल गौर से उसके चेहरे को देखता हुआ बोला।

“ह...हां....।” संजना हिचकिचाई फिर धीरे से बोली।

“बोलो।"

"हमारा शिकार...।” संजना सकुचाती सी बोली “मेरा मतलब है कि जतिन कहीं गलत आदमी तो नहीं है। कहीं उसे लेकर तुमसे कोई गलती तो नहीं हो रही?"

"मुझसे कभी गलती नहीं होती जानेमन। अगर जतिन को लेकर मेरा एक भी दावा गलत निकल जाए तो तुम मुझे गोली मार देना।"

“आई सी।” संजना किसी हद तक आश्वस्त नजर आने लगी थी। तभी एकाएक उसने कार को ब्रेक लगा दिए।

"क...क्या हुआ?" सहगल ने चौंककर पूछा “कार क्यों रोक दी।”

“सफर का क्लाइमेक्स आ पहुंचा है।" संजना ने कहा "उधर देखो।"

सहगल ने संजना की बताई दिशा में निगाह डाली। अगले पल उसके होंठों से निःश्वास निकल गई।

कार संजना के फ्लैट के सामने खड़ी थी। सहगल के होठों से निःश्वास निकल गई।
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply

05-31-2021, 12:01 PM,
#10
RE: Thriller Sex Kahani - कांटा
जानकी लाल अस्पताल के आरामदायक व नर्म बिस्तर पर मौजूद था। बिस्तर का सिरहाना उसने सुविधाजनक तरह से ऊपर उठा रखा था, जिस पर वह तकिये के सहारे इस तरह से बैठा था जैसे कि अपनी रिवाल्विंग चेयर पर आराम की मुद्रा में बैठा हो।अपना सिर उसने उठे हुए बिस्तर की पुश्त से टिका रखा था। वह उस वक्त होश में था और पूरी तरह सामान्य अवस्था में था। उसे कल ही आईसीयू से ओपीडी के स्पेशल वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया था। उस पर तीन गोलियां चलाई गई थीं लेकिन उसे केवल एक ही गोली लगी थी, वह भी उसकी दाहिनी भुजा में। उस वक्त उसने कपड़ों के नीचे बुलेट प्रूफ जैकेट पहन रखी थी, जो कि अगर उसने न पहन रखी होती तो बाकी दोनों गोलियां भी यकीनन उसकी छाती के आर-पार हो गई होतीं और उस वक्त वह अपने बनाने वाले के हुजूर में अपनी पेशी दर्ज करा रहा होता।

बुलेटप्रूफ जैकिट ने उसे उसकी निश्चित मौत से बचा लिया था। वह जैकेट क्योंकि केवल कंधों तक ही आती थी, कंधों से बाहर हाथों के मूव करने वाले हिस्से को कवर नहीं करती थी, लिहाजा उसकी दाहिनी बांह जख्मी होकर रह गई थी।

सच तो यह था कि वह बेहोश भी नहीं हुआ था। उसने अपने हमलावर को गुमराह करने के लिए केवल बेहोश होने का दिखावा किया था और फिर जैसे ही लोग उसे उठाने लगे थे, वह खुद ही उठकर खड़ा हो गया था।

उस वक्त वहां अस्पताल में उसके पास तीन लोग मौजूद थे। उनमें से पहला शख्स अजय था जो कि उसकी कम्पनी का चीफ एकाउंटेंट था। और अजय वही शख्स था, जिसके कि उस वक्त जानकी लाल इंतजार में था जबकि उस पर जानलेवा हमला हुआ था। दूसरा शख्स संदीप महाजन था, जो कि उसका दामाद था और तीसरी उसकी जूही की कली जैसी खिली-निखरी नौजवान बेटी थी। जिसका नाम रीनी था और जो हमेशा बुलबुल की तरह चहकती रहती थी। लेकिन उस वक्त उसकी सारी शोखी गायब थी। हर चेहरे पर माहौल का तनाव साफ दिख रहा था।

सिवाए जानकी लाल के।
जो कि जरा सा भी तो परेशान नहीं था। वह पहले की तरह ही सहज और बेतकल्लुफ नजर आ रहा था। यहां तक कि इस दरम्यान वह कई बार खुलकर अट्टहास भी कर चुका था। अजय उसके बुलावे पर वहां पहुंचा था। जबकि उसकी बेटी और दामाद बिना बुलाए ही वहां पहुंचे थे। वह आखिर उसके अपने थे और वह कभी भी उसके पास आ जा सकते थे।

“अ..अब कैसी तबियत है सर?" सहसा अजय बोला।

बुलाने की वजह पूछने से पहले उसने औपचारिक सवाल किया, जो कि उस वक्त अपेक्षित भी था।

“अब जाने भी दो।” जानकी लाल ने निहायत ही मीठे स्वर में जवाब दिया “बताते-बताते थक गया हूं। जो आता है पहला सवाल यही करता है। अब तुम्हीं बताओ भला, देखने में मैं कैसा नजर आ रहा हूं।”

उसके उस अप्रत्याशित जवाब पर अजय हड़बड़ा गया। वह तुरंत कोई जवाब न दे सका।

“भाई...।” जानकी लाल ही बोला “कितनी बार बता चुका हूं, तुम लोग मेरे लिए परेशान मत हुआ करो। इतनी जल्दी मैं नहीं मरने वाला। बहुत लम्बी उम्र लिखाकर लाया हूं मैं ऊपर वाले से।”

“अब रहने भी दीजिए डैडी।” रीनी एकाएक तमककर बोली “ज्यादा हीरो बनने की कोशिश मत कीजिए। कुछ हम बच्चों का भी ख्याल कीजिए। जानते भी हैं, यह आप पर तीसरा जानलेवा हमला है। इस बार भी मौत आपको बस छूकर निकल गई बाल-बाल बचे हैं आप मरने से। मैं पूछती हूं आखिर क्यों हो रहा है यह सब आपके साथ? कौन है जो आपको जिंदा देखना नहींचाहता।"
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  XXX Kahani एक भाई ऐसा भी sexstories 75 1,358,564 07-27-2021, 03:38 AM
Last Post: hotbaby
  Sex Stories hindi मेरी मौसी और उसकी बेटी सिमरन sexstories 28 224,036 07-27-2021, 03:37 AM
Last Post: hotbaby
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 242 712,174 07-27-2021, 03:36 AM
Last Post: hotbaby
Thumbs Up bahan sex kahani ऋतू दीदी desiaks 103 313,494 07-25-2021, 02:44 AM
Last Post: ig_piyushd
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 282 963,479 07-24-2021, 12:11 PM
Last Post: [email protected]
Thumbs Up Desi Chudai Kahani मकसद desiaks 70 19,688 07-22-2021, 01:27 PM
Last Post: desiaks
Heart मस्तराम की मस्त कहानी का संग्रह hotaks 375 1,087,532 07-22-2021, 01:01 PM
Last Post: desiaks
Heart Antarvasnax शीतल का समर्पण desiaks 69 57,761 07-19-2021, 12:27 PM
Last Post: desiaks
  Sex Kahani मेरी चार ममिया sexstories 14 130,269 07-17-2021, 06:17 PM
Last Post: Romanreign1
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 110 768,457 07-12-2021, 06:14 PM
Last Post: deeppreeti



Users browsing this thread: 1 Guest(s)