Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
02-12-2022, 01:11 PM,
#11
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
पायल किताब का पहला पन्ना उलटती है. सामने कहानियों के शीर्षिक लिखे हुए हैं. "१. गर्मी की एक रात, पापा के साथ", "२. पापा के लंड की सवारी", "३. भैया के लंड की प्यासी", "४. छोटे भाई का मोटा लंड". कहानियों के शीर्षक पढ़ के पायल को पसीना आने लगता है. उसने सोचा भी नहीं था की इस किताब में इस तरह की कहानियां होगी. पायल उन शीर्षकों को फिर से एक बार पढ़ती है. फिर कांपती हुई उँगलियों से वो पन्ना पलटती है. दुसरे पन्ने में बड़े अक्षरों में, "गर्मी की एक रात, पापा के साथ" लिखा हुआ है. वो धीरे धीरे नज़रों को निचे ले जा कर कहानी पढ़ने लगती है. कहानी एक १९ साल की एक लड़की की है जो गर्मी के मौसम में अलग अलग घटनाओं द्वारा धीरे धीरे अपने पापा के करीब आती है और गर्मी की एक रात पापा की हमबिस्तर हो कर चुद जाती है. पायल की नज़रें गौर से पन्ने पर छपे हर एक अक्षर को पढ़ने लगती है. हर एक पलटते पन्ने के साथ पायल का बुरा हाल होता जा रहा था. कहानी पढ़ते हुए कभी वो अपने ओठों को दांतों से दबा देती तो कभी अपनी बड़ी बड़ी चुचियों की घुंडीयों (nipples) को मसल देती. एक बार कहानी में ऐसा मोड़ आया की पायल ने सिसकारी भरते हुए पैन्टी के ऊपर से अपनी बूर को ही दबोच लिया. धीरे धीरे पायल अपने बदन से खेलते हुए कहानी पढ़ती जा रही थी. ३० मिनट के बाद पायल ने जैसे ही वो कहानी खत्म की, वो किताब को एक तरफ फेंक कर बिस्तर पर सीधा लेट गई. उसके एक हाथ ने टॉप के निचे से होते हुए एक चूची को अपनी गिरफ्त में ले लिया और दुसरे हाथ ने पैन्टी के अन्दर घुस के बूर के ओठों से खेलना शुरू कर दिया. पायल आँखे बंद किये हुए अपने ओठों को दांतों से काट रही थी. उसके हाथ चूची को कभी दबोच के दबा देते तो कभी मसल देते. पैन्टी के अन्दर हाथ की एक ऊँगली बूर के सुराक को तलाशने लगी. पायल की बूर बुरी तरह से रिसने लगी थी. उसके दिमाग में उस कहानी के कुछ मादक अंश घुमने लगे थे. उन्हें याद करके पायल और भी ज्यादा मचल जाती. तभी पायल के दिमाग में कहानी का एक अंश आया जिसने उसका बुरा हाल कर दिया. पायल ध्यान लगा के उस अंश को याद करती है. उसकी बंद आँखों के सामने कहानी का वो एक हिस्सा आ जाता है.....

"बिना कपड़ों के नंगे बदन कुसुम, अपने पापा के मोटे लंड पर ऐसे उच्छल रहीं थीं मानो किसी घोड़े की सवारी कर रही हो. घर की बिजली कटी थी और गर्मी की रात. इमरजेंसी लाइट की रौशनी में कुसुम का पसीने से भरा बदन चमक रहा था. दोनों हाथों को उठायें वो अपने बालों को चेहरे से हटा के पीछे कर रही थी. तभी निचे लेटे बूर में सटा सट लंड पलते हुए पापा की नज़र कुसुम के उठे हाथों की बगलों पर पड़ी. दोनों बगल में रेशमी बाल और बहता पसीना देख के पापा ने अपने हाथों को उसकी पीठ पर ले जा कर उसे अपने ऊपर खींच लिया. कुसुम की भारी चूचियां पापा के सीने से पूरी तरह से चिपक गई और पापा ने सर उठा के उसकी बगल से निकलती पसीने की खुशबू को एक लम्बी सांस लेते हुए सूंघ लिया. पसीने की गंध सूंघते ही पापा ने निचे से जोर की ठाप लगायी तो कुसुम की चीख निकल गई - 'हाय...!! मर गई पापा...!!'...".

इस अंश को याद करते ही पायल के मुहँ से हलकी सी आवाज़ निकल जाती है, "उफ़ पापा". तभी उसके दोनों हाथ थम जाते है और आँखे झट से खुल जाती है. बड़ी बड़ी आँखों से वो ऊपर पंखे को देखने लगती है. दिल ऐसे धड़क रहा है मानो कोई ढोल बजा रहा हो. "ये मैंने क्या कह दिया? अपने ही पापा के बारें में....". इतना कहते ही पायल की ऊँगली हरकत में आ जाती है और बूर के दाने को रगड़ने लगती है. दूसरा हाथ चूची को मसलने लगता है. उसकी आँखे एक बार फिर से बंद हो जाती है और उसके मुहँ से फिर एक आवाज़ निकलती है, "हाय पापा....सीssss....उफ़ पापाssss". उसकी कमर ऊपर उठ जाती है और ऊँगली बूर के दाने को तेज़ी से रगड़ने लगती है. "बहुत गर्मी है पापा....ठंडा कर दीजिये ना....". पायल के मुहँ से अब अपने पापा के लिए वो शब्द निकलने लगते है जो उसने कभी सपने में भी नहीं सोचा था. पापा के प्रति उसका प्यार अब धीरे धीरे हवस का रूप लेने लगा था. तभी पायल के कानो में दरवाज़ा खटखटाने की आवाज़ सुनाई पड़ती है. वो होश में आती है. किताब को तकिये के निचे झट से छुपा के पायल कड़ी हो जाती है और अपने कपड़े ठीक करते हुए दरवाज़े के पास जाती है.

पायल : (दरवाज़ा खोलती है) भाभी आप?

उर्मिला : (मुस्कुराते हुए खड़ी है) मैडम ... आपकी आज की पढाई हो गई हो तो चाय पीने आ जाइये. सब आपका इंतज़ार कर रहे है.

पायल : (मुस्कुराते हुए) जी भाभी. ५ मिनट में आती हूँ.

उर्मिला : (जाते हुए) जल्दी आना, देर मत लगा देना.

पायल : जी भाभी ...

दरवाज़ा बंद करके पायल अन्दर आती है. उसके चेहरे पर मुस्कान है. सामने आईने में अपने आप को देखती है. अपनी सुन्दरता और गदराये बदन को देख के पायल की मुस्कान और ज्यादा खिल जाती है. तभी पायल को उस कहानी का एक छोटा सा अंश याद आता है. जिसे याद कर के वो हँस देती है. आईने के थोडा करीब जा कर वो झुक जाती है. टॉप के बड़े गले से चुचियों के बीच की गहराई को वो आईने में देखते हुए वो एक हाथ आगे बढ़ाते हुए कहती है, "पापा आपकी चाय...". फिर वो एक हाथ से अपना चेहरा छुपा के मुस्कुराते हुए बाथरूम में भाग जाती है.

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply

02-12-2022, 01:11 PM,
#12
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
अपडेट ९:

पायल बाथरूम से बाहर आती है. एक बार फिर वो अपने आप को आईने के सामने खड़े हो कर निहारती है. अपनी बड़ी बड़ी चुचियाँ देख कर मुस्कुराते हुए वो एक दुपट्टा लेती है और अपने कंधो पर डाल लेती है. तेज़ क़दमों से चलते हुए वो ड्राइंग रूम के पास आती है. सामने सोफे पर उमा देवी, सोनू और उर्मिला अपनी अपनी जगह पर बैठे है और चाय पी रहे है. पापा को वहां ना पाकर पायल की नज़रें उन्हें ढूंढने लगती है. नज़रे चारों तरफ घुमाते हुए पायल सोफे के पास जाती है और धीरे से बैठ जाती है.

उर्मिला : क्या देख रही हो पायल?

पायल : कुछ नहीं भाभी. वो पापा कहीं दिखाई नहीं दे रहे?

उमा :लो आ गई अपने पापा की लाड़ली..... बाथरूम गए हैं. अभी आ जायेंगे.

पायल मम्मी की तरफ देख के मुहँ बना देती है. उर्मिला किसी तरह अपनी हँसी को रोकती है. तभी उसकी नज़र सोनू पर जाती है. सोनू तिरछी नज़रों से दुपट्टे के निचे से पायल का उभरा हुआ सीना देखने की कोशिश कर रहा था. "शुरू हो गया बहनचोद , उर्मिला मन में सोचती है. तभी बाबूजी बाथरूम से बाहर आते है. उर्मिला उन्हें देख कर रसोई से उनके लिए चाय लेने के लिए उठने लगती है. तभी पायल उर्मिला का हाथ पकड़ के निचे बिठा देती है.

पायल : भाभी आप चाय पीजिये. पापा के लिए मैं चाय ले कर आती हूँ. (पायल रसोई में चली जाती है).

बाबूजी सोफे पर अपनी जगह आकर बैठ जाते है. उन्हें देख के उमा कहती है.

उमा : अरे ...!! आप यहाँ क्यूँ बैठ रहें हैं? जाईये...अपनी पहलवानी कीजिये..

रमेश: देखो उमा..!! तुम मेरी कसरत पर नज़र मत लगाया करो मैं बोले दे रहा हूँ...

उमा : अजी मैं कहाँ नज़र लगा रही हूँ? मैं तो बस ये कह रहीं हूँ की सर के सारे बाल सफ़ेद होने को आ गए हैं, (सोनू के सर पर हाथ फेरते हुए) एक घोड़े और (रसोई की तरफ मुहँ बना के देखते हुए) एक गधी के बाप हो फिर भी आपकी जवानी ख़तम नहीं होती.

रमेश : (थोड़ी ऊँची आवाज़ में) गधा होगा तुम्हारा ये लाड़ला .... मेरी पायल बिटिया के बारें में कुछ मत बोलना....

उर्मिला : (हँसते हुए) बात तो बाबूजी की सही है मम्मी जी. पायल बेहद समझदार और सायानी लड़की है.

उमा : (हँसते हुए) ठीक है, फिर गधी नहीं तो घोड़ी हे सही...

उमा की इस बात पे सब हँस पड़ते है. उर्मिला रसोई में देखती है तो पायल चुप चाप एक कोने में खड़ी है.

उर्मिला : मम्मी जी main २ मिनट में आयी...

उर्मिला रसोई में पायल के पास आती है. उसके कंधे पर हाँथ रखते हुए कहती है.

उर्मिला : पायल...!! क्या हुआ? तू तो बाबूजी के लिए चाय लेने आई थी? यहाँ ऐसे सर झुकाए क्यूँ खड़ी है?

पायल का सर झुका है और नज़रें निचे रखे चाय के प्याले पर. वो कुछ क्षण वैसे ही प्याले को देखती है और कहती है...

पायल : कहानी और रियल लाइफ में बहुत फर्क होता है भाभी....

इतना कहते ही पायल की आँखे बड़ी हो जाती है. वो झट से बड़ी आँखों से उर्मिला की ओर देखने लगती है. उर्मिला पायल को देख मुस्कुरा रही है. पायल को अपनी गलती का एहसास होता है. उसने अनजाने में ही शायद पापा के लिए अपने जज़्बात को भाभी के सामने ज़ाहीर कर दिया था. वो जानती थी की जिस कहानी की किताब को पढ़ के उसके दिल में पापा के लिए भावनायें जागी थीं, वो किताब उसे उर्मिला ने ही दी थीं. पायल बड़ी बड़ी आँखों से उर्मिला को देख रहीं थीं. उर्मिला ने भी उसकी हालत समझते हुए उसे अपने सीने से लगा लिया. पायल भी भाभी के सीने में मुहँ छुपा लेती है. वो जानती है की इस वक़्त उसके मन में जो उथल पुथल हो रही है वो सिर्फ उर्मिला ही समझ सकती है.

उर्मिला : (पायल को अपने सीने से लगा लेती है) कोई बात नहीं पायल. ऐसा होता है. हर बात का एक समय होता है. शायद जो तू अभी चाह रही हो, उसका अभी ना तो समय हो और ना ही जगह.

पायल : (उर्मिला की बात सुन कर भाभी को देखते हुए) मैं कुछ समझी नहीं भाभी...
Reply
02-12-2022, 01:12 PM,
#13
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
उर्मिला पायल को देख के मुस्कुराती है. फिर उर्मिला पायल को उस दिशा में घुमा देती है जहाँ सोफे पर रमेश, उमा और सोनू बैठे हैं. पायल उन्हें देखने लगती है. उर्मिला अपना चेहरा पायल की कंधे पर लाती है और धीरे से उसके कान में कहती है.

उर्मिला : देख पायल, बहादुरी दिखाना अच्छी बात है लेकिन ये जरुरी नहीं की बहादुरी सबके सामने दिखाई जाए...(उर्मिला पायल की ठोड़ी पकड़ के सोनू और उमा की तरफ उसका चेहरा घुमाते हुए कहती है. फिर वो उसका चेहरा बाबूजी की तरफ घुमा कर कहती है) अगर अपनी मंजिल को पाना हो तो तू बहादुरी अकेले में दिखा, चालाकी के साथ.

पायल के लिए उर्मिला की वो बात किसी ब्र्हम्ज्ञान से कम ना थीं. बात समझते ही पायल के उदास चेहरे पर एक मुस्कराहट आ जाती है. वो शर्माते हुए फिर से अपना चेहरा उर्मिला के सीने में घुसा देती है.

पायल : भाभी....!!!

उर्मिला : (उर्मिला पायल का चेहरा हाथों से उठा के कहती है) समझ गई ना बन्नों?

पायल नज़रें झुकाये अपना सर हिला कर हामी भर देती है. उर्मिला उसका दुपट्टा ठीक करते हुए कहती है.

उर्मिला : अब जा और बाबूजी को चाय दे दे. और हाँ... बहादुरी अकेले में. सबके सामने वाला मोर्चा तेरी भाभी संभाल लेगी.

पायल भाभी को देख के हँस देती है और चाय का प्याला ले कर बाबूजी के पास जाती है. वो अब दुपट्टे को बिना गिराए बाबूजी को चाय देती है.

पायल : पापा... आपकी चाय...

रमेश : थैंक्यू बिटिया....क्या बात है? बड़ी देर लगा दी चाय लाने में?

पायल : वो पापा...वो...वो...

पायल समझ नहीं पा रही थीं की वो क्या जवाब दे. तभी उर्मिला पायल का हाथ पकड़ कर उसे अपनी गोद में बिठा लेती है.

उर्मिला : वो वो क्या कर रही है? बता दे ना.... वो क्या है बाबूजी...पायल ने आपकी चाय में थोड़ा दूध डाल दिया था (उर्मिला दुपट्टे के निचे से पायल की चूची दबा देती है), इसलिए चाय गरम करने में देरी हो गई...

उर्मिला की इस हरकत से पायल के चेहरे का रंग उड़ जाता है. पर सबके सामने वो बेचारी करती भी क्या?

रमेश : (हँसते हुए) ओह अच्छा....

उर्मिला :चाय पी कर बताइए बाबूजी, दूध सही मात्रा में डाला हैं ना पायल ने?

रमेश : (चाय की एक चुस्की ले कर) वाह...!! मज़ा आ गया. दूध की मात्र बिलकुल सही है और स्वाद भी बहुत अच्छा है.

उर्मिला : देखा पायल..! दूध की मात्र भी सही है और स्वाद भी (उर्मिला एक बार फिर दुपट्टे के निचे से पायल की चूची दबा देती है. बेचारी पायल चुप चाप कसमसा के रह जाती है) बाबूजी, पायल अब बड़ी और सायानी हो गई है. कल मुझसे कह रही थी की, भाभी अब मैं पापा को भी बोझ उठा सकती हूँ...

ये सुन कर पायल हक्कि-बक्की रह जाती है. वो समझ नहीं पाती की क्या बोले और क्या करे. तभी उमा बोल पड़ती है.

उमा : बड़ी और सायानी नहीं, बड़ी घोड़ी कह उर्मिला. बड़ी घोड़ी है ये....

उर्मिला : तो ठीक है मम्मी जी... पायल घोड़ी बन के बाबूजी का बोझ उठा लेगी (उर्मिला धीरे से पायल की चुतड पर चुटकी काट लेती है)

इस बात पर सभी हँसने लगते है और पायल का बुरा हाल हो जाता है. उर्मिला के बात की गहराई और असली मतलब वो अच्छी तरह से समझ रही थी. वो चेहरे पर बनावटी हँसी ला कर सबका साथ देती है.

रमेश : देखो भाई..!! पायल घोड़ी बन के बोझ उठाये या कुछ और... मैं तो बस इतना जानता हूँ की मेरी पायल मेरा बोझ उठाने लायक हो गई हैं...

उर्मिला : (पायल के सर पर हाथ फेरते हुए) क्यूँ पायल? उठा लेगी ना पापा का बोझ?

पायल : जी ..जी भाभी...!! (पायल झट से खड़ी हो जाती है). अच्छा भाभी मुझे कॉलेज का कुछ काम याद आ गया. अब मैं चलती हूँ...(और पायल नज़रें झुका के तेज़ क़दमों से अपने कमरे की तरफ बढ़ने लगती है)

पायल के जाने के बाद सभी चाय पीते हुए हँसी मजाक करने लगते हैं. इधर पायल अपने कमरे में आती है. दरवाज़ा बंद करके वो बिस्तर के पास आती है. साँसे तेज़ है, चेहरे पर थोड़ी शर्म और मुस्कराहट. भाभी की दूध वाली बात याद कर के एक हाथ से अपनी चूची दबाते हुए वो हँस देती है. बिस्तर पर बैठते हे उसे भाभी की घोड़ी वाली बात याद आती है. वो धीरे से बिस्तर पर चढ़ती है और घोड़ी के अंदाज़ में बैठ जाती है. दिवार पर टंगे बड़े से आईने में वो अपने आप को देखती है. आईने में देखते हुए धीरे से वो अपनी चुतड को थोड़ा ऊँचा करती है. "हाँ पापा... मैं घोड़ी बन के आपका बोझ उठा सकती हूँ", और वो शर्मा के बिस्तर पर गिर जाती है और अपना चेहरा तकिये में छुपा लेती है. कुछ देर वैसे ही वो बिस्तर पर पड़ी रहती है फिर तकिये के निचे से किताब निकाल के पन्ने पलटने लगती है. "पापा के लंड की सवारी" - पायल के चेहरे पर मुस्कान छा जाती है. धीरे धीरे समय के साथ पायल की टॉप उसकी बड़ी बड़ी चुचियों के ऊपर उठ जाती है और हाथ उन्हें मसलने लगते हैं और पायल उस कहानी की रंगीन दुनिया में खो जाती है.

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
02-12-2022, 01:12 PM,
#14
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
अपडेट १०:

रात के १०:३० बज रहे है. सोनू, रमेश और उमा अपने अपने कमरों में सोने जा चुके है. उर्मिला रसोई का काम खत्म करके पायल के कमरे के पास आती है. दरवाज़ा थोड़ा खुला पा कर वो अन्दर चली जाती है. सामने पायल अर्थशाश्त्र की किताब लिए पढ़ रही है. उर्मिला को देख कर वो झट से किताब बंद कर लेती है.

पायल : रसोई का काम हो गया भाभी?

उर्मिला : हाँ हो गया. सोने जाने से पहले सोचा एक बार तेरा हाल चाल भी पंच लूँ. (उर्मिला पायल के हाथ की किताब देख कर) तो अर्थशाश्त्र की पढाई हो रही है.

पायल : जी भाभी...

उर्मिला : अच्छा? और अर्थशाश्त्र की किताब के अन्दर कामशाश्त्र का कौन सा पाठ पढ़ा जा रहा है?

पायल : (शर्माते हुए) "पापा के लंड की सवारी"

उर्मिला : (हँसते हुए पायल के गाल खींच देती है) ओ हो..!! पायल रानी...जरा अपना मुखड़ा तो दिखा...

उर्मिला हाथ से पायल की ठोड़ी को पकड़ के उसका चेहरा उठाती है. पायल पहले तो नज़रे झुका के शर्माती है फीर कहती है.

पायल : (झूठ मुठ का नखरा दिखाते हुए) ओफों भाभी...!! आप हमेशा मुझे छेड़ती रहती है...

उर्मिला : (हँसते हुए) अच्छा बाबा नहीं छेड़ती. पढ़ ले अराम से कहानी.

पायल कहानी पढ़ने लगती है. कुछ समय बाद उर्मिला कहती है.

उर्मिला : अच्छे एक बात बता पायल. तेरे पास वो एक गुलाबी रंग की टॉप थी ना? वही जो तुझे बहुत टाइट हुआ करती थी...

पायल : हाँ भाभी..थी तो. लेकिन बहुत वक़्त से उसे मैंने पहना भी नहीं है. अब पता नहीं कहाँ होगी. लेकिन आप क्यूँ पूछ रहीं हैं?

उर्मिला : जब से तू कॉलेज जाने लगी है सिर्फ छोटे गले वाली टॉप पहनती है. अब कम से कम घर में तो बड़े गले वाली टॉप पहना कर. अब तू सुबह भी जल्दी उठने लगी है, घर का काम भी करने लगी है. रोज सुबह छत पर कपडे सुखाने जाती है. (फिर पायल को देख कर मुस्कुराते हुए) और बाबूजी भी तो सुबह छत पर कसरत करने आते हैं....

उर्मिला की बात समझने में पायल को कुछ क्षण लगते हैं. जैसे ही बात समझ में आती है, पायल का चेहरा लाल हो जाता है और उसके ओठ दाँतों तले अपने आप दब जाते है.

उर्मिला : अब कुछ याद आ रहा है की वो टॉप कहाँ है?

पायल झट से बिस्तर से कूद कर दौड़ती हुई अलमारी के पास पहुँच जाती है. पलड़े खोल कर वो अन्दर कपड़ो को उथल पुथल करने लगती है. कुछ समय बाद वो निचे का दराज खोलती है और देखने लगती है. गुलाबी टॉप पर नज़र पड़ते ही वो झट से उसे निकाल के उर्मिला को दिखाती है.

पायल : (ख़ुशी से) मिल गई भाभी....

उर्मिला : अरे वाह..!! ये हुई ना बात. अब जल्दी से इसे पहन के दिखा.

पायल : (चेहरे पर संकोच के भाव लाते हुए) भाभी...आपके सामने......

उर्मिला : तो ठीक है जा... बाबूजी के सामने जा कर बदला ले. जब वो तेरी बड़ी बड़ी चुचियों को दबोच के पियेंगे तब तुझे पता चलेगा....

पायल : (शर्माते हुए) धत्त भाभी...आप भी ना...रुकिए, अभी पहन के दिखाती हूँ.

पायल टॉप का निचला हिस्सा पकड़ धीरे धीरे ऊपर करने लगती है. टॉप में फंसी पायल की बड़ी बड़ी चूचियां टॉप के साथ ऊपर उठती है फिर उसकी गिरफ्त से छुटकर उच्चलती हुई बाहर आ जाती है. उर्मिला उसकी बड़ी बड़ी कसी हुई गोरी चूचियां आँखे फाड़ के देखने लगती है.

उर्मिला : पायल तेरी चूचियां तो सच में बड़ी और पूरी कसी हुई हैं. सोच....अगर तेरे पापा अभी आ गए और तुझे इस हाल में देख लिया तो?

पायल : (टॉप उतार के कुर्सी पर डाल देती है और नखरा दिखाते हुए कहती है) तो देख ले.... मुझे क्या?

उर्मिला : फिर वो तेरी चुचियों को दबोच के मसल देंगे....

पायल : (नखरे के साथ मुहँ बनाते हुए) दबोच के मसल दें या फिर मुहँ में भर के चूस ले...मुझे कोई फरक नहीं पड़ता...

पायल की ऐसी बेशर्मी देख के उर्मिला मुस्कुरा देती है. पायल गुलाबी टॉप में बाहें डालती है और फिर सर. टॉप को पकड़ के निचे करने लगती है तो वो उसकी बड़ी चुचियों में फंस सी जाती है. थोड़ी मशक्कत के बाद पायल टॉप पहन लेती है.

पायल : कैसी लग रही है भाभी....

उर्मिला टॉप को ऊपर से निचे तक देखती है. बड़ी बड़ी चुचियों पर चिपकी हुई टॉप गजब ढा रही है. बड़े गले से चुचियों के बीच की गहराई बिना झुके ही अच्छे से दिख रही है.

उर्मिला : पायल जरा सामने झुकना...

पायल : (आगे झुक कर) ऐसे भाभी?

उर्मिला : हुम्म...!! एक काम कर...अपनी चुचियों को दोनों तरफ से एक बार जोर से दबा दे.

पायल : (भाभी के निर्देशानुसार चुचियों को हाथों से दोनों तरफ से दबा देती है. दबाव से दोनों चूचियां आपस में चिपक जाती है और बीच की गहराई लम्बी हो जाती है) अब ठीक है भाभी?

उर्मिला : हाँ...!! बिलकुल ठीक है... परफेक्ट....!! अच्छा अब देख... ११ बजने वाले है. सुबह तुझे जल्दी भी उठाना है. देर रात तक कहानियां पढ़ के पापा को याद मत करने लग जाना.

पायल : (हँसते हुए) नहीं भाभी...मैं जल्द ही सो जाउंगी...

उर्मिला : ठीक है अब मैं चलती हूँ....गुड नाईट...

पायल : गुड नाईट भाभी...

उर्मिला कमरें से बाहर निकल के जाने लगती है, तभी उसे एक बात याद आती है. वो मुड़ के पायल के कमरे के पास जाती है और जैसे ही दरवाज़ा को थोड़ा खोलती है, उसके हाथ रुक जाते है. उसकी नज़र पायल पर टिक जाती है. अन्दर पायल आईने के सामने अपने दोनों हाथों को उठाये खड़ी है. उर्मिला की समझ में नहीं आता है की पायल ये कर क्या रही है. वो बड़े ध्यान से पायल को देखने लगती है. पायल अपने हाथों को ऊपर उठा के खड़ी है. फिर अपने आप को आईने में देख के वो एक हाथ से अपने कूल्हों की तरफ से टॉप को बारी बारी से निचे खींचती है. फिर दोंनो हाथों को उठा के आईने में देखती है. कुछ देख कर उसके चेहरे पर ख़ुशी के भाव आ जाते है. उर्मिला समझने की कोशिश करती है. तभी उसका ध्यान आईने पर जाता है और कुछ देख के उसके भी चेहरे पर मुस्कराहट आ जाती है. "अच्छा पायल रानी...तो अब तू ये करेगी....संभल जाइये बाबूजी...कल आपका लंड लंगोट फाड़ के बाहर आने वाला है", मन में सोचते हुए उर्मिला धीरे से दरवाज़ा लगाती है और मुस्कुराते हुए अपने कमरे की तरफ चल देती है.

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
02-12-2022, 01:12 PM,
#15
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
अपडेट ११:

सुबह के ६:३५ बज रहें है. उर्मिला गैस पर चाय चढ़ा के रोज की तरह रसोई का दूसरा काम कर रही है. तभी पायल वहां आती है. वही गुलाबी टॉप पहने, कन्धों पर दुपट्टा और निचे टाइट फिटिंग वाला पजामा.

पायल : गुड मोर्निंग भाभी...

उर्मिला : गुड मोर्निंग पायल... (ऊपर से निचे देखती है) कमाल की लग रही है पायल... लेकिन ये दुपट्टा क्यूँ डाल रखा है... निकाल इसे...

पायल दुपट्टा निकाल देती है और पास के टेबल पर रख देती है. उसकी नज़रे यहाँ वहां घूम रही है जैसे किसी को तलाश रहीं हो.

उर्मिला : पापा को ढूंड रही है?

पायल : (मुस्कुराते हुए बेहद धीमी आवाज़ में) हाँ...!! कहाँ है पापा...?

उर्मिला : आ जायेंगे...इतनी उतावली क्यूँ हो रही है...

तभी पायल और उर्मिला को कदमो की आहट सुनाई देती है. दोनों सतर्क हो जाती है. रमेश अपने सर को गर्दन से गोल गोल घुमाते, गर्दन की अकडन ठीक करते हुए रसोई में आते है.

रमेश : बहू.... (इतना कहते ही बाबूजी जी नज़र पायल पर पड़ती है और उनका घूमता सर वैसे ही थम जाता है. आज पायल ने दुपट्टा नहीं लिया है. पायल की बेहद टाइट टॉप उसके बड़े बड़े खरबूजों पर कसी हुई है. टॉप के बड़े गले से चुचियों के बीच की गहरी गली साफ़ दिखाई दे रही है. बाबूजी की नज़रे पायल के सीने के बीच की गहरी खाई पर आ कर रुक जाती है)

उर्मिला : क्या हुआ बाबूजी...??

रमेश : (उर्मिला की आवाज़ सुन के अपने आप को संभालता है) अ...कुछ नहीं बहु...ये..ये...पायल आज फिर से इतनी जल्दी उठ गई...? पायल बेटी...आज तू फिर से इतनी सुबह ?

पायल : हाँ पापा...कल मैंने कहा था ना की अब से मैं रोज जल्दी उठ जाया करुँगी और भाभी का काम में हाथ बटाया करुँगी...तो बस...उठ गई जल्दी...(पायल अपने चेहरे पर भोलापन लाते हुए कहती है)

रमेश : (पायल के सर पर हाथ रखते हुए) शाबाश बिटिया....!! बहुत अच्छा कर रही हो तुम... (एक नज़र टाइट टॉप में उठी हुई पायल की बड़ी बड़ी चुचियों पर डालने के बाद रमेश उर्मिला से कहता है) अच्छा बहु....वो ..चाय बन गई क्या?

उर्मिला : बस बाबूजी बनने ही वाली है. आप छत पर जाइये, मैं आपकी चाय ले कर ऊपर ही आ जाउंगी.

रमेश : (थोडा हिचकिचाते हुए) अरे नहीं नहीं बहु ..दिन में दस बार ऊपर निचे करती है, थक जाती होगी. अभी पायल तो ऊपर आएगी ही ना...(पायल की तरफ घूम कर) क्यूँ पायल ? तू तो कपडे डालने आएगी ना छत पर?

पायल : हाँ पापा...अभी वाशिंग मशीन से कपड़े निकाल के बाल्टी में डालूंगी उसके बाद आउंगी....

रमेश : हाँ तो बहु...पायल मेरी चाय लेते आ जाएगी...अब ये उठी ही है तेरी मदद करने तो फिर करने दे इसे...

उर्मिला : हाँ बाबूजी...सही कहा आपने....येही आपकी चाय ले कर छत पर आ जाएगी. और जब ये काम ही करने के लिए जल्दी उठी है तो छत वाले सारे काम मैं पायल को ही दे देती हूँ....

रमेश : (अपनी ख़ुशी को किसी तरह से छुपाते हुए) हाँ हाँ बहु....!! छत के सारे काम करवाओ इस से....और मैं तो कहता हूँ की अभी सुबह सुबह ही सारे काम करवालो पायल से...एक बार इसकी माँ उठ गई तो पता नहीं इसे किस काम पर लगा दे...

उर्मिला : हाँ बाबूजी आपने बिलकुल सही कहा...छत के सारे काम मैं इस से अभी ही करवा लेती हूँ...

रमेश : हाँ बहू...छत के सारे काम करवा लो पायल से अभी...अच्छा अब मैं चलता हूँ...कसरत की तैयारी कर लूँ छत पर....

बाबूजी छत की सीढ़ियों की तरफ जाने लगते है. रसोई में पायल और उर्मिला एक दुसरे की तरफ देख के मुस्कुरा रहीं है.

उर्मिला : पायल..! तेरा काम तो बन गया....

पायल : हाँ भाभी...! (फिर चेहरे पर डर का भाव लाते हुए) लेकिन भाभी...अगर कोई छत पर अचानक से आ गया तो?

उर्मिला आँखे गोल गोल घुमाते हुए कुछ क्षण सोचती है फिर अचानक बाबूजी को आवाज़ देती है.

उर्मिला : बाबूजी...!!!!

रमेश चलते चलते उर्मिला की आवाज़ सुन कर रुक जाता हैं और पीछे मुड़ के उर्मिला को देखते है.

रमेश :क्या बात है बहु?

उर्मिला : (मुस्कुराते हुए) देखिये ना बाबूजी.....पायल क्या कह रही है....

उर्मिला ना जाने क्या कहने वाली है ये सोच कर पायल की सिट्टी-पिट्टी गम हो जाती है. वो भाभी का हाथकस के पकड़ लेती है.

रमेश : (दूर से ही पायल की तरफ देखते हुए) क्या कह रही है मेरी बिटिया रानी?

उर्मिला : बाबूजी ये कह रही है की अगर इसका दिल काम में ना लगा तो ये निचे आ जाएगी. कॉलेज बंद हुए १ दिन हुआ है और देखिये कैसे अभी से रंग दिखाना शुरू कर दिया है इसने...(उर्मिला पायल की नाक पकड़ के धीरे से दबाते हुए) एक दम नटखट हो रही है आपकी बिटिया रानी...

उर्मिला की इस बात से पायल की जान में जान आती है.

रमेश : (हँसते हुए) क्यूँ पायल? बहु सही कह रही है?

उर्मिला पीछे से पायल की चुतड पर चुटकी काट लेती है तो पायल, जो अब तक खामोश थी, झट से बोल पड़ती है.

पायल : (बचपना दिखाते हुए) हाँ पापा...!! मेरा दिल नहीं लगेगा काम में तो मैं भाग कर निचे आ जाउंगी....

उर्मिला : देखा बाबूजी आपने...? कितनी नटखट होती जा रही है आपकी लाड़ली...आप एक काम करियेगा बाबूजी. जब पायल छत पर आएगी तो ऊपर से दरवाज़ा बंद कर लीजियेगा ताकि ये भाग कर निचे ना आ सके. और बाबूजी अब ये आपकी जिम्मेदारी है की पायल ठीक तरह से छत के सारे काम करे. फिर बाद में मुझे ही करना पड़े तो क्या फायदा.

उर्मिला की बात सुन के रमेश किसी तरह से अपनी मुस्कान को चेहरे पर आने से रोकता है.

रमेश : अ..अ..हाँ बहु.. मैं ऊपर से दरवाज़ा बंद कर लूँगा. और तुम चिंता मत करो. मैं खुद खड़े हो कर इस से सारे काम करवाऊंगा....(फिर कुछ सोच कर) लेकिन बहु...अगर घर में किसी को छत पर कोई काम हुआ तो? मेरा मतलब है की मैं अपनी कसरत कर रहा हूँ और पायल अपने काम में वैस्थ है तो पता नहीं चल पायेगा ना की दरवाज़ा खोलना है.

उर्मिला : कोई नहीं आएगा बाबूजी...सोनू तो ९ बजे से पहले उठेगा नहीं. मम्मी जी ७ बजे उठेगी और चाय पीते हुए टीवी के सामने जम जायेंगी. प्रवचन १ - १:३० घंटे तो चलता ही है. और रही मैं, तो रसोई का काम करने में मुझे भी १ - १:३० घंटे लग ही जायेंगे. आप छत का दरवाज़ा लगा लीजियेगा, कोई नहीं आएगा..

रमेश : (अपनी ख़ुशी को छुपाते हुए) अच्छा..अच्छा ठीक है बहु...मैं ऊपर का दरवाज़ा लगा लूँगा...अब मैं चलता हूँ...

बाबूजी के जाते ही पायल ख़ुशी से भाभी से चिपक जाती है.

पायल : वाह भाभी...!! आपने तो कमाल कर दिया...

उर्मिला : तो तू क्या मुझे ऐसा-वैसा समझती है? अब ध्यान से सुन मेरी बात...बाबूजी के सामने झुक झुक के काम करना. जरुरत पड़े तो अपना सीना थोड़ा उठा भी देना. अगर बाबूजी कोई काम करने कहें तो चुप चाप कर देना. समझ गई ना?

पायल : (ख़ुशी के साथ) जी भाभी...समझ गई...

उर्मिला : अब ये चाय का प्याला ले और वो रही सामने बाल्टी, उठा और सीधा छत पर चली जा...

पायल : जी भाभी...

पायल घूम कर जाने लगती है. पीछे से उर्मिला आवाज़ देती है.

उर्मिला : आरी ओ पायल रानी...!!

पायल : (घूम कर) हाँ भाभी...

उर्मिला : वो तो मेरे पास छोड़ कर जा....

पायल : (भ्रमित हो कर) वो आपके पास छोड़ कर जाऊं? वो क्या भाभी?

उर्मिला : (मुस्कुराते हुए) अपनी 'लाज-शर्म' और क्या...

पायल को हँसी आ जाती है. फिर एक नज़र इधर-उधर डाल के उर्मिला की ओर देखती है . एक हाथ से चाय का प्याला पकड़े, दुसरे हाथ से टॉप उठा के अपनी नंगी चूची को मसलते हुए कहती है.

पायल : (चूची मसलते हुए) "उफ्फ पापा..!!"

और दोनों जोर से हँस देती हैं.

पायल : अच्छा भाभी अब मैं चलती हूँ....

पायल कपड़ों की बाल्टी उठाये दुसरे हाथ में चाय का प्याला लिए, सीढ़ियों पर धीरे धीरे चड़ने लगती है. पीछे से उर्मिला उसकी हिलती हुई चौड़ी चूतड़ों को देखती है. "लगता है आज पायल रानी बाबूजी की बड़ी पिचकारी से होली खेल के ही दम लेगी". और उर्मिला भी रसोई में अपने काम पर लग जाती है.

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
02-12-2022, 01:12 PM,
#16
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
अपडेट १२:

छत पर रमेश तेज़ क़दमों से यहाँ वहां घूमते हुए टहल रहें है. उनकी नज़रें बार बार छत के दरवाज़े की तरफ जा रहीं है. थोड़ी सी भी आहट होती तो उन्हें लगता की पायल आ रही है. पायल के बारें में सोच कर ही उनका लंड बेचैन हो रहा है. तभी सीढ़ियों पर क़दमों की आहट सुनाई देती है. रमेश दरवाज़े पर नज़रे गड़ाये खड़े हो जाता है. तभी पायल एक हाथ में चाय का प्याला और दुसरे हाथ में कपड़ो से भरी बाल्टी ले कर दरवाज़े से छत पर आती है. रमेश की नज़र सीधे पायल की बड़ी बड़ी चुचियों पर जाती है जो टाइट टॉप में कसी हुई है. पायल पापा की नज़र को भांप लेती है और अपना सीने हल्का सा उठा देती है. ये देखकर रमेश का लंड धोती में एक झटका खाता है.

रमेश : आ गई मेरी गुड़िया रानी....

पायल : जी पापा...!!

रमेश : ला ये बाल्टी मुझे दे...(पायल के हाथ से बाल्टी लेते हुए) कहाँ रखूँ इसे बेटी?

पायल : (पायल जानती है की पापा खटिया के पास हे कसरत करते है. वो झट से कहती है) यहाँ रख दीजिये पापा...खटिया के पास. मैं येही से कपडे निचोड़ के सूखने डाल दूंगी.

रमेश : ठीक है बेटी...

रमेश बाल्टी उठा के खटिया के पास रख देता है. पायल चाय का प्याला लिए खड़ी है. रमेश उसे देखते है और मुस्कुराते हुए खटिये पर बैठ जाते है.

रमेश : ला पायल...चाय दे दे....

पायल धीरे धीरे चल के पापा के पास आती है. हाथ बढ़ा के चाय का प्याला देते हुए वो आगे झुक जाती है.

पायल : लीजिये पापा....आपकी चाय...

पायल के झुकते ही रमेश की आँखों के सामने टॉप के बड़े गले से उसकी आधी चूचियां दिखने लगती है. बड़ी बड़ी चुचियों के बीच की गहराई देख कर रमेश की हालात ख़राब हो जाती है.वो एक तक उस गहराई को घूरे जा रहा है. तभी उसके कानों में पायल की आवाज़ पड़ती है.

पायल : कहाँ खो गए पापा? चाय लीजिये....

रमेश : (हडबडाते हुए) अ..आ.. कहीं नहीं बिटिया....ला चाय दे मुझे...

चाय दे कर पायल खड़ी हो जाती है. रमेश पायल के हाथ से चाय लेकर एक चुस्की लेते है.

रमेश : वाह पायल...!! चाय भले ही बहु ने बनाई हो, पर तेरे हाथ लगते ही इसका स्वाद और उम्दा हो गया...

पायल : (पायल अपने हाथ के रुमाल को नखरे के साथ घुमाते हुए कहती है) थैंक्यू पापा... अगली बार मैं आपको अपने हाथों से बनी चाय पिलाउंगी

रमेश : हाँ पायल...मेरा भी दिल करता है की कभी मैं तेरे हाथ की चाय पियूं....

तभी पायल जान बुझ के अपने हाथ का रुमाल गिरा देती है.

पायल : मैं आपको स्पेशल चाय पिलाउंगी पापा... (रुमाल उठाने के लिए झुकती है. उसकी आधी नंगी चूचियां पापा की आँखों के सामने आ जाती है)...डबल दूध वाली....

सामने का नज़ारा देख के रमेश का लंड धोती के अन्दर झटके लेते हुए लार की २-३ बूंदें टपका देता है. पायल की आधी नंगी चूचियां और उसके मुहँ से डबल दूध वाली चाय की बात सुन कर रमेश के होश उड़ जाते है. वो कुछ सोच कर कहते है.

रमेश : पायल...तुझे तो पता है बेटी...मैं बाज़ार के पैकेट वाला दूध नहीं पीता हूँ. मुझे तो घर की गाय का दूध ही पसंद है.

रमेश की बात सुन के पायल मन हे मन मुस्कुरा देती है फिर कुछ सोच के कहती है.

पायल : लेकिन पापा...घर की गाय तो अभी दूध नहीं देती है ना....

रमेश खड़े होते है और पायल के सर पर हाथ फेरते हुए कहते है.

रमेश : (पायल के सर पर हाथ फेरते हुए) जानता हूँ पायल बेटी...घर की गाय अभी दूध नहीं देती, लेकिन वो दूध देने लायक तो हो गई हैं ना ?...तुझे तो पता है की पापा ने उसकी कितनी देख-भाल की है. कुछ दिन पापा के हाथ का चारा खाएगी तो हो सकता है की दूध भी देने लग जाए.

रमेश की बातें सुन के पायल के जिस्म के आग लग जाती है. उसका रोम रोम उस आग में जलने लगता है. उर्मिला ने पहले ही पायल के लाज-शर्म के कपडे उतार दिए थे. पापा की इस बात ने उसकी थोड़ी बहुत बची हुई लाज-शर्म को जैसे छु-मंतर कर दिया. अब पायल पापा के सामने एक ऐसी लड़की की तरह थी जो कपड़े पहन के भी पूरी नंगी हो.

पायल और रमेश की नज़रें आपस में मिलती है. दोनों कुछ क्षण एक दुसरे की आँखों में देखते रहते है मानो एक दुसरे का हाल समझने की कोशिश कर रहे हो. तभी पायल अपने ओठ काटते हुए कहती है.

पायल : अच्छा पापा...अब मैं कपडे डालने जाती हूँ.

रमेश : हाँ बेटी..ठीक है...

पायल घूम कर अपनी चौड़ी चुतड हिलाते हुए जाने लगती है. रमेश हिलती चूतड़ों को देखते हुए अपने लंड को धोती के ऊपर से एक बार जोर से मसल देता है. पायल कपड़ो की बाल्टी के पास पेशाब करने के अंदाज़ में बैठ जाती है. रमेश ठीक उसके सामने खटिये पर बैठ जाता है. पायल बाल्टी से एक कपड़ा निकालती है और दोनों हाथों से जोर जोर से रगड़ने लगती है. पायल की बड़ी बड़ी चूचियां हिलने लगती है. चुचियों के बीच की खाई, चुचियों के हिलने से कभी छोटी तो कभी लम्बी होने लगती है. बीच बीच में पायल और रमेश की नज़रे मिलती है तो दोनों कुछ क्षण एक दुसरे की आँखों में घूरते ही रह जाते है. नज़रें हटते ही पायल की चुचियों का हिलना और तेज़ हो जाता है. पायल ३-४ कपड़ों को रगड़ के बाल्टी की दूसरी तरफ रख देती है. अब रमेश उठ के छत के दरवाज़े का पास जाता है और दरवाज़े को बंद करके बाहर से कुण्डी लगा देता है. फिर चलते हुए वो पायल के पास आता है और अपनी धोती को हाथों से जांघो तक चढ़ा के पायल के सामने पेशाब करने के अंदाज़ में बैठ जाता है. रमेश के निचे बैठते ही उसकी नज़रे पायल की नज़रों से मिलती है. रमेश की आँखों में देखते हुए पायल अपने ओठो को दाँतों से काट लेती है. पायल के हाथ में एक कपड़ा है. रमेश उस कपड़े की और ऊँगली से इशारा करते हुए कहता है.

रमेश : (पायल को देखते हुए) पायल बिटिया...लगता है इस कपड़े पर चाय गिर गई थी. ठीक से साफ़ नहीं हुआ....

पायल : (कपड़े पर उस धब्बे को देखती है) हाँ पापा....ये तो वाशिंग मशीन में भी साफ़ नहीं हुआ. लगता है मुझे ही इसे अच्छे से इसे साफ़ करना पड़ेगा.

ये कह कर पायल उस कपडे को ज़मीन पर फैला देती है और घोड़ी के अंदाज़ में एक हाथ से कपडे के एक कोने को दबा देती है. वो घोड़ी बन के सामने झुकती है तो पायल की बड़ी बड़ी चूचियां रमेश की नजरो के ठीक सामने आ जाती है. घोड़ी बन के झुकने से अब टॉप के बड़े गले से चूचियां आधे से ज्यादा दिखने लगी है. चुचियों के बीच की गहराई अब सीध में दिखने लगी है. पायल एक बार पापा की आँखों में देखती है और फिर नज़रे कपडे पर डाले जोर जोर से रगड़ने लगती है. रमेश पायल की जोर जोर से हिलती चूचियां दखते है. रमेश गौर करते है तो देखते है की पायल के हाथों की गति धीमी है और चुचियों के हिलने की गति ज्यादा. ये देख कर रमेश के चेहरे पर मुस्कान आ जाती है. वो कुछ देर वैसे ही पायल की हिलती बड़ी बड़ी चुचियों का मज़ा लेते है फिर पायल को देख कर कहते है.

रमेश : बेटी..लगता है ये दाग नहीं निकलेगा. देखो तो तुम्हें कितना पसीना आ गया है. पूरी टॉप भीग गई है.

पायल : हाँ पापा...लगता है ये दाग नहीं निकलेगा....

पायल खड़ी हो कर अपने माथे का पसीना पोंछती है. फिर दोनों हाथो को उठा के अपने बालों को पीछे ले जा कर बाँधने लगती है. रमेश की नज़र पायल की की बगलों पर पड़ती है. टॉप की छोटी बांहों से बगल के हलके काले रेशमी बाल दिख रहे है और निचे पसीने से गीला धब्बा. ये नज़ारा देख के रमेश का लंड और सक्त हो जाता है. वो पायल के पास जाता है. नज़रें पायल की बगलों पर है. पायल को समझने में देर नहीं लगती की पापा की नज़रें कहाँ है. वो वैसे ही हाथो से बालों को ठीक करते हुए खड़ी है.

रमेश : (पायल के पास जा कर एक लम्बी साँसे लेते हुए) पायल बेटी...ये खुशबू कहाँ से आ रही है? कौनसा परफ्यूम लगाया है?

पायल समझ जाती है की पापा किस खुशबू की बात कर रहे है. वो परफ्यूम सिर्फ कॉलेज जाते वक़्त लगाती थी. अब जब कॉलेज बंद हो गया था तो उसने दो दिनों से कोई परफ्यूम नहीं लगाया था.

पायल : (नखरा दिखाते हुए) हाँ पापा ....लगाया है. लेकिन मैं आपको उसका नाम नहीं बताउंगी. वो परफ्यूम तो आप भी इस्तेमाल करते हो. देखती हूँ की आप पहचान पाते हो या नहीं?

रमेश : (मुस्कुराते हुए) ये तो तुमने मुझे दुविधा में डाल दिया बिटिया. खैर...अब तुम मुझे परखना ही चाहती हो तो ठीक है, देखते है....

रमेश अपना सर पायल की टॉप के करीब ला कर जोर से सांस लेते है. २-३ बार साँसे लेने के बाद.

रमेश : यहाँ तो कुछ पता नहीं चल रहा पायल. तुम अपनी बगलों में ज्यादा परफ्यूम लगाती हो ना?

पायल : जी पापा....पसीने भी तो वही ज्यादा आता है ना....

रमेश : हाँ पायल बेटी...और तुझे तो और भी ज्यादा पसीने आता है. देख तो तेरी बगलों के निचे की टॉप कैसी भीगी पड़ी हैं. चलो...कोई बात नहीं. मैं अभी सूंघ के बताता हूँ की कौनसा परफ्यूम है.

रमेश अपनी नाक पायल की बाएं बगल की तरफ ले जाता है. पायल भी अपना हाथ और ऊपर उठा देती है.

रमेश : (जोर से सांस खींच कर) हम्म....!! खुशबू तो अच्छी है पायल लेकिन ये तेरे टॉप की बाहं सब खेल बिगाड़ रही है. इसकी वजह से मैं ठीक तरह से खुशबू नहीं ले पा रहा हूँ. तेरे पास कोई बिना बाहं वाली टॉप नहीं हैं क्या?

पायल : है तो पापा...लेकिन वो मैं सिर्फ सोते वक़्त ही पहनती हूँ...

रमेश : तो कोई बात नहीं बेटी...किसी दिन तेरे कमरें में आ कर उस खुशबू को पहचान ने की कोशिश कर लूँगा.

पायल : ठीक है पापा....

रमेश : अच्छा पायल तेरा काम हो गया हो तो अब तू जा. तेरी मम्मी का प्रवचन ना खत्म हो जाए.

पायल : हाँ पापा मैं चलती हूँ...नहीं तो टीवी का प्रवचन खत्म होगा और मम्मी का शुरू....

दोनों एक बार एक दुसरे को देख के मुस्कुरा देते है और पायल बाल्टी उठा के जाने लगती है. रमेश पीछे से उसकी चुतड को देखते हुए लंड मसलने लगता है.

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
02-12-2022, 01:12 PM,
#17
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
अपडेट १३:

चहरे पर मुस्कराहट लिए पायल उच्चलती हुई सीढ़ियों से निचे उतर रही है. पापा के साथ हुई हर एक घटना को याद करके उसका दिल धड़क रहा है और एक मीठा सा दर्द उसके तन-बदन में एक अजीब सी प्यास जगा रहा है. कभी शर्माती तो कभी हँसती हुई वो निचे आती है. सामने सोफे पर बैठी उमा उसे देखती है.

उमा : अरी ओ, बेलगाम घोड़ी....!! संभल के. गिर गई और हड्डियाँ टूट गई तो हो गया सत्यानाश....

पायल ड्राइंग रूम में आती है और मुहँ बना कर उमा को लम्बी सी जीभ दिखा देती है.

उमा : बताऊँ तुझे मैं...? अपनी माँ को जीभ दिखाती है ? और....और ये क्या कपड़े पहन रखे हैं तुने ? घर में दो-दो मर्द है और इस लड़की को देखो... अभी बदल के आ ये टॉप...जा...

पायल : नहीं बदलूंगी...!! फैशन है ये आजकल... और मुझे गर्मी भी होती है....

उमा : फैशन गया तेल लेने...और गर्मी होगी तो क्या घर में नंगी घूमेगी तू?

पायल : हाँ ..! घुमुंगी नंगी... आपको क्या?

उमा गुस्से में सोफे पर से उठ के खड़ी हो जाती है और अपना हाथ उठा के....

उमा : चुप कर बदमाश..!! अभी एक तमाचा लगा दूंगी तुझे....

रसोई में खड़ी उर्मिला माँ-बेटी को नोक-झोंक बहुत देर से देख रही थीं. उमा का पारा चढ़ते ही वो वहां पहुँच जाती है.

उर्मिला : अरे अरे मम्मी जी...!! इतना गुस्सा क्यूँ कर रही है ? (पायल को अपने सीने से लगा कर) इतनी प्यारी बच्ची है...(पायल के सर पर हाथ फेरना लगती है).

उमा : २१ साल की घोड़ी हो गई है और अक्कल नहीं है इस लड़की को जरा भी...देख तो उर्मिला इस लड़की को...अब तू ही समझा इसे..

उर्मिला : मम्मी जी..आप ऐसे ही गुस्सा कर रही है. (उर्मिला चुपके से अपनी ऊँगली पजामे के ऊपर से पायल की बूर पर रगड़ देती है और कहती है) बहुत गर्मी होती है बेचारी को...

उर्मिला की इस हरकत पर पायल भाभी को देखती है और अपने ओंठ काट लेती है.

उमा : बहु...गर्मी तक तो ठीक है...लेकिन इसे कुछ तो शर्म होनी चाहिए ना...?

उर्मिला : (पायल को देखते हुए) मम्मी जी की ये बात बिलकुल सही है पायल...थोड़ा ध्यान तो तुझे भी रखना होगा...(धीरे से पायल को आँख मारते हुए) अब चल...मम्मी जी को सॉरी बोल....

पायल : (धीरे से) आइ एम सॉरी मम्मी....

उमा : हाँ ठीक है...चल अब जा और पहले ये कपड़े बदल.... (अपने कमरे की तरफ जाते हुए) पता नहीं ये लड़की बाहर क्या कांड करेगी....

उमा के जाते ही पायल और उर्मिला धीरे धीरे हँसने लगते है.

उर्मिला : (धीरे से पायल से कहती है) ये लड़की बाहर नहीं मम्मी जी, घर में कांड करेगी....बोल करेगी ना पायल ?

पायल : (मुस्कुराते हुए) हाँ भाभी...करुँगी...!

उर्मिला : अब जल्दी से अपने कमरे में जा, मैं २ मिनट में आती हूँ.

पायल दौड़ती हुए अपने कमरे में चली जाती है. रसोई में बचा हुआ काम जल्दी जल्दी खत्म करके उर्मिला पायल के रूम में जाती है. दरवाज़े से अन्दर देखती है तो पायल आईने के सामने खड़ी हो कर टॉप पर से अपनी बड़ी बड़ी चूचियां पकडे हुए है. उर्मिला झट से दरवाज़ा अन्दर से बंद कर के पायल के पास पहुँच जाती है.

उर्मिला : (पीछे से उसकी बड़ी बड़ी चूचियां पकड़ के) और मेरी पायल रानी..!! बड़ी खुश लग रही है...पापा का लंड अपनी बूर में ठूंसवा के आ रही है क्या?

पायल : (मस्ती में) भाभी काश...!! पापा मेरी बूर में अपना मोटा लंड ठूँस देते...

उर्मिला : (पायल को अपनी तरफ घुमाते हुए) तो नहीं ठूँसा क्या?

पायल : (उदास होते हुए) नहीं भाभी....

उर्मिला : (पायल को सीने से लगाते हुए) कोई बात नहीं मेरी बन्नो...!! सब्र कर...फल जल्द ही मिलेगा...अच्छा ये तो बता क्या क्या हुआ छत पर..?

पायल की आँखों में चमक आ जाती है. वो भाभी का हाथ पकड़ कर बिस्तर पर ले जाती है और दोनों बैठ जाते है.

पायल : (उत्सुकता के साथ) क्या बताऊँ भाभी....आज मैंने पापा को अपनी आधी चूचियां दिखा दी...

उर्मिला : सच..!! फिर तो पापा का बुरा हाल हो गया होगा ना?

पायल : हाँ भाभी... इधर मैं अपनी चूचियां जोर जोर से हिला रही थी और उधर पापा का लंड धोती में झटके ले ले कर उच्छल रहा था...

उर्मिला : हाय...!! बाबूजी तेरी चुचियों को घुर रहे थे क्या?

पायल : हाँ भाभी...खा जाने वाली नज़रों से....मेरा तो दिल किया की अभी पापा के पास जाऊं और टॉप उठा के अपनी बड़ी बड़ी चूचियां उनके मुहँ में दे दूँ...

उर्मिला : तो दे देती ना...किसने रोका था....

उर्मिला : (पायल मुहँ बना कर) हाँ भाभी...अगली बार पापा ऐसे देखेंगे तो सच में दे दूंगी....

उर्मिला : (हँसते हुए) अच्छा...और बता ना क्या हुआ...?

पायल : पापा ने मेरी पसीने से भरी बगलें सूंघ ली भाभी...कह रहे थे की टॉप की बांहे खेल बिगाड़ रही है. वो पूछ रहे थे की कोई बिना बांह वाली टॉप नहीं है क्या मेरे पास...

पायल की बात सुन के उर्मिला की आँखे बड़ी बड़ी हो जाती है. वो धीरे से गहरी सांस लेती है तो पायल के बदन से निकलती हलकी पसीने की खुशबू सीधे उसकी नाक में घुस जाती है. "उफ़"...उर्मिला के मुहँ से निकल जाता है.

पायल : क्या हुआ भाभी..?

उर्मिला : तेरे बदन की खुशबू ही इतनी मदहोश कर देने वाली है पायल, तो तेरी बगलों की महक तो सच में किसी को भी पागल कर देगी...एक बार अपना हाथ तो उठाना...

पायल एक हाथ ऊपर उठा देती है. उर्मिला गौर से देखती है. उसकी छोटी बांह से हलके रेशमी बाल दिख रहे है और निचे का टॉप भीगा हुआ है. उर्मिला अपनी नाक पायल की बगल के पास ले जाती है और एक जोरो की सांस लेती है....

उर्मिला : आह्ह्हह्ह्ह्ह.....!! तेरी बगल की गंध से मेरा ये हाल हो रहा है तो बाकी मर्दों का क्या हाल होगा. पता नहीं इसे सूंघने के बाद तेरे पापा ने अपने आप पर कैसे काबू रखा होगा...

पायल : सच भाभी..? मेरी बगल की गंद इतनी अच्छी है?

उर्मिला : अच्छी ? बहुत अच्छी है पायल.. तू एक बार किसी को सुंघा दे तो वो अपना लंड थामे तेरे पीछे पीछे चला आये...

इस बात पर दोनों हँस पड़ते है...

उर्मिला : अच्छा अब आगे का कुछ सोचा है?

पायल : पता नहीं भाभी...आप ही कुछ बताइए ना...

उर्मिला : अच्छा...करती हूँ मैं कुछ....(कुछ सोच कर) अच्छा पायल एक बात तो बता...

पायल : जी भाभी..

उर्मिला : सोनू से तेरी कभी क्यूँ नहीं बनती? हमेशा दोनों झगड़ते रहते हो?

सोनू का नाम सुनते ही पायल को गुस्सा आ जाता है.

पायल : मेरे सामने उसका नाम भी मत लीजिये भाभी... एक नंबर का गधा है वो...

उर्मिला : (हँसते हुए) हाँ बाबा ठीक है...गधा है वो लेकिन फिर भी तेरा सगा भाई है...

पायल : भाई है तो क्या हुआ? उस गधे से तो मैं बात भी ना करूँ...

उर्मिला : पगली...भाई बहन में तो नोक-झोंक चलती ही रहती है...अब जैसे देख, मैं और मेरा चचेरा भाई....

पायल मुस्कुराते हुए बीच में उर्मिला की बात काट देती है.

पायल : वही ना भाभी...जिसने आपकी सबसे पहले बूर खोली थी..

उर्मिला : (हँसते हुए) हाँ बाबा...वही...!! तो हम दोनों भी पहले बहुत झगडा करते थे लेकिन सबसे पहले मेरी बूर में उसी का लंड गया ना?

पायल : लेकिन भाभी...मैं और सोनू तो एक दुसरे को फूटीं आँख नहीं भाते...

उर्मिला : तुझे कैसे पता? हो सकता है की सोनू तेरे लिए अपना लंड थामने खड़ा हो?

पायल : धत्त भाभी...वो तो मुझसे हमेशा लड़ते रहता है...

उर्मिला : इसी लड़ाई के पीछे तो भाई का असली प्यार छुपा होता है पायल...

पायल : (कुछ सोचती है फिर कहती है) अच्छा भाभी...एक बात बताइए....आप अपने भाई के साथ बहुत चुदाई करती होगी ना?

उर्मिला : पूछ मत पायल...! स्कूल में, स्कूल से घर आते वक़्त पास के जंगल में, घर की छत पर और ना जाने कहाँ कहाँ ... जब भी जहाँ भी मौका मिलता वो मुझ पर चढ़ाई कर देता था...

पायल : उफ़ भाभी...!! (वो फिर से कुछ सोचती है) पर भाभी..! रक्षाबंधन के दिन जब आप उसकी कलाई पर राखी बांधती होगी तब तो आपको थोडा अजीब लगता होगा ना?

उर्मिल : (मुस्कुराते हुए) अजीब? पगली...!! असली मज़ा तो उसी दिन आता था...

ये सुन कर पायल की आँखे बड़ी बड़ी हो जाती है.

पायल : हाय राम भाभी..!! रक्षाबंधन के दिन भी, आप दोनों...

उर्मिला : हाँ पायल..रक्षाबंधन के दिन भी...और उस दिन का तो हम दोनों बेसब्री से इंतज़ार करते थे...उस दिन मैं राखी की थाली ले कर आती थी. वो निचे बैठा रहता था. घरवालों के सामने मैं उसके माथे पर टिका लगाती थी, उसकी आरती उतरती थी. फिर हम एक दुसरे को मिठाई खिलाते. मैं उसकी कलाई पर राखी बांधती और वो मेरे हाथ में ५०/- रूपए का नोट थमा देता.

ये सब पायल बड़े गौर से सुन रही थी. उसकी आँखे बड़ी और मुहँ खुला हुआ था. साँसे धीरे धीरे तेज़ हो रही थी.

पायल : और फिर भाभी....?

उर्मिला : फिर क्या ?... हम दोनों किसी बहाने से घर से निकलते. वो मुझे अपनी साइकल पर बिठा के पास के जंगल ले जाता. जंगल में वो अपनी पैंट उतरता और मैं उसके मोटे लंड पर राखी बाँध देती. फिर वो मुझ पर चढ़ाई कर देता. वो 'बहना' 'बहना' कहते हुए मेरी बूर में लंड पेलता और मैं 'भैया' भैया' कहते हुए उसका लंड बूर में लेती.

अब पायल की हालत बुरी तरह से खराब हो चुकी थी. उसकी साँसे मानो किसी तूफ़ान सी आवाजें करती हुई बाहर आ रही थी. उर्मिला उसे गौर से देखती है. उसके मन में हो रही उथल पुथल को वो अच्छी तरह से समझ रही है.

उर्मिला : क्या हुआ पायल? कहाँ खो गई?

पायल : (झेंपते हुए) कु..कु..कुछ नहीं भाभी....पर क्या सच में रक्षाबंधन के दिन भाई का लंड लेने में इतना मज़ा आता है?

उर्मिला : हाँ पायल..!! बहुत मज़ा आता है. रक्षाबंधन के दिन तो बहुत से भाई-बहन चुदाई का मज़ा लेते है. और उस दिन उनके लंड और बुरे सबसे ज्यादा पानी छोड़ते है. वैसे पायल...रक्षाबंधन तो अभी आने ही वाला है ना?

पायल : (थोड़ी शर्माते हुए) हाँ भाभी... क्यूँ ?? आपको भाई की याद आ रही है क्या?

उर्मिला : अरे उसे तो मैं रोज ही याद करती हूँ. मैं तो ये सोच रही थी की अपने भाई से एक बार मिल ही आऊ. इसी बहाने रक्षाबंधन भी मना लुंगी.

उर्मिला की बात सुन के पायल पहले खुश हो जाती है फिर कुछ कर उदास हो जाती है.

पायल : मतलब भाभी आप इस बार रक्षाबंधन पर यहाँ नहीं रहोगे?

उर्मिला : अब भाई के घर रक्षाबंधन मनाने जाउंगी तो यहाँ कैसे रहूंगी....

पायल : (उदास सा चेहरा बनाते हुए)...उम्म्म्म भाभी...!! मैं अकेली पड़ जाउंगी यहाँ...

उर्मिला : हम्म...!! एक रास्ता है...लेकिन पता नहीं तुझे अच्छा लगेगा या नहीं...

पायल : (खुश होते हुए) हाँ भाभी.. बोलिए ना...

उर्मिला : तू भी मेरे साथ चल...मेरे भाई के घर....

पायल : हाँ भाभी ...मैं भी चलूंगी आपके साथ...

उर्मिला : लेकिन पायल... रक्षाबंधन का दिन होगा तो सोनू को भी साथ ले कर चलना पड़ेगा...(पायल की आँखों में देखते हुए) और तुझे भी तो उसे राखी बांधनी होगी ना..?

उर्मिला की बात सुन कर पायल शर्मा के नज़रे झुका लेती है है. फिर मुहँ बनाते हुए कहती है.

पायल : (मुहँ बना के) ठीक है भाभी...सोनू को भी साथ ले चलेंगे...

उर्मिला : फिर ठीक है...मेरे भाई के घर में बहुत से कमरे है. तू सोनू के साथ जहाँ चाहे वहां रक्षाबंधन मना लेना...

पायल : धत्त भाभी...!! (और अपना सर उर्मिला के सीने में छुपा लेती है)

उर्मिला : (पायल की ठोड़ी उठा के आँखों में देखते हुए) बोल पायल...!! सोनू के साथ रक्षाबंधन मनाएगी?

पायल : (धीरे से ) हाँ...मनाउंगी...

उर्मिला : और राखी कहाँ बांधेगी ?

पायल : (अपने ओंठ काट लेती है).... उसके लंड पर...!!

ये कहते ही पायल दौड़ के बाथरूम में घुस जाती है और दरवाज़ा बंद कर लेती है. उर्मिला हंसने लगती है. "उस बेहनचोद सोनू का भी काम बन गया. साला चूतिया कहीं रक्षाबंधन के दिन अपनी दीदी को देखते ही पानी ना छोड़ दे". मन में सोचते हुए पायल वहां से चली जाती है.

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
02-12-2022, 01:13 PM,
#18
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
अपडेट १४:

शाम का समय है. घड़ी में ५ बज रहे है. ड्राइंग रूम में उर्मिला, पायल, उमा और सोनू बैठे है. ठहाकों की आवाज़ से कमरा गूँज रहा है. उमा सोनू का सर अपने सीने में छुपा कर है.

उमा : (कड़ी आवाज़ में) चुप रहो तुम दोनों..!! मेरे लल्ला को ऐसे ही परेशान करते रहते हो. इतना प्यारा बच्चा है मेरा...

पायल : बच्चा नहीं मम्मी, गधा बोलिए...

उमा : चुप कर घोड़ी...गधा मत बोल मेरे लल्ला को...अपने छोटे भाई को कोई ऐसा कहता है क्या?

उर्मिला : हाँ पायल...अपने छोटे भाई को ऐसा नहीं कहते....

सोनू : दीदी हमेशा मुझे चिढ़ाती रहती है. मैं कुछ बोलता हूँ तो गुस्सा हो जाती है...

पायल : अच्छा बाबा नहीं चिढ़ाउंगी तुझे...अब ठीक है..?

सोनू पायल को उमा के सीने से सटे हुए जीभ दिखा देता है. पायल एक बार मम्मी की तरफ देखती है. मम्मी की नज़र बाहर दरवाज़े पर है. पायल झट से सोनू की तरफ देखते हुए अपनी नज़रे उसकी टांगो के बीच ले जाती है और जीभ निकाल के चाटने के अंदाज़ में एक दो बार निचे से ऊपर कर देती है. पायल की इस हरकत से सोनू का थूक गले में ही अटक जाता है. किसी तरह वो थूक को गले से निचे उतारता है. शॉर्ट्स में उसका लंड फूलने लगता है. वो झट से सोफे पर पड़ा एक कुशन उठा के अपनी गोद में रख लेता है. सोनू को इस हाल में देख कर पायल और उर्मिला दोनों हँसने लगती है. तभी दरवाज़े से रमेश अन्दर आते है. शाम को वो पास की सड़क पर रोज़ टहलने जाते हैं. रमेश को देख कर पायल चुप हो जाती है. उर्मिला पीछे से पायल की चुतड दबा देती है.

उर्मिला : (धीरे से पायल के कान में) जा पायल...दौड़ के पापा का लंड मुहँ में ले ले....

पायल : (बेहद धीरे से) भाभी...प्लीज....

रमेश : ननद-भाभी में क्या खुसुर-फुसुर हो रही है?

उर्मिला : कुछ नहीं बाबूजी...पायल पूछ रही थी की पापा शाम में बाहर टहलने क्यूँ जाते है, छत पर क्यूँ नहीं टहलते ?

रमेश : (हँसते हुए) छत पर तो मैं रोज सुबह कसरत करता ही हूँ, ये बात तो पायल भी जानती है. (फिर पायल को देख कर मुस्कुराते हुए) जानती हैं ना पायल?

पायल : (सुबह की बात सोच कर गालों पर लाली छा जाती है. धीरे से कहती है) हाँ पापा...जानती हूँ...

रमेश : वैसे उर्मिला... बात तो सही है पायल की. मैं भही सोच रहा हूँ की कल से शाम में छत पर ही टहल लिया करूँ...(पायल को देख कर) क्यूँ पायल बेटी? ठीक रहेगा ना?

उर्मिला : हाँ बाबूजी...छत पर टहलना ही ठीक रहेगा. टहलते हुए आप आस-पास के नज़ारें भी देख सकते हैं (उर्मिला फिर से पायल की चुतड पीछे से दबा देती है). क्यूँ पायल सही रहेगा ना?

पायल : (चेहरा लाल हो चूका है) जी भाभी....सही रहेगा....

तभी उमा सक्त आवाज़ में कहती है.

उमा : तुम लोगों का हंसी-मजाक हो गया हो तो कुछ काम की बात कर लें?

रमेश : अब ऐसा कौनसा काम आ गया?

उमा : (रमेश को घूरते हुए) आपको कसरत से फुर्सत मिले तो कुछ याद रहे ना....पिछले हफ्ते ही चंद्रपाल जी का लड़का शादी का कार्ड दे कर गया था...भूल गए?

रमेश : (सर पर हाथ मारते हुए) हे भगवान...!! मुझे तो याद ही नहीं रहा. कब की शादी है उमा?

उमा : कल ही है शादी. इस घर में मैं और बहु ना हो तो पता नहीं तुम लोगों का क्या होगा?

रमेश : अच्छा बाबा ठीक हैं...मान ली तुम्हारी बात. अब ये बताओ की कल निकलना कब है.

उर्मिला : कल शाम में ही निकलना होगा बाबूजी, ७ बजे के करीब. १ घंटा तो लग ही जायेगा पहुँचने में. सब से मिलकर, खाना-वाना खा कर हम सब १० बजे तक निकल आयेंगे...

उमा : हाँ येही ठीक रहेगा. (रमेश को देखते हुए) और आप मेरी बात ध्यान से सुनिए. कल सुबह आप कोई कसरत-वसरत नहीं करेंगे.

रमेश : उमा ...तुम हमेशा मेरी कसरत के पीछे क्यूँ पड़ी रहती हो?

उमा : कह दिया ना एक बार... कल कोई कसरत नहीं होगी. कल सुबह आप गाड़ी की सफाई करोगे. गराज में पड़े-पड़े पता नहीं कितनी धुल-मिटटी जम गई होगी.

रमेश : (एक बार उदास नज़रों से पायल की तरफ देखता है) ठीक है. जैसी तुम्हारी इच्छा...

उमा : और तुम सभी मेरी बात ध्यान से सुन लो. सोनू और उसके पापा गाड़ी की साफ़-सफाई करेंगे. मैं, उर्मिला और पायल कल बाज़ार जायेंगे और शादी में देने के लिए गिफ्ट और कुछ शौपिंग करेंगे. समझ गए सब लोग?

सभी सर हिला के हामी भर देते है. रमेश उठ के अपने कमरे में चले जाते है. सोनू भी अपने फ़ोन में कुछ करता हुआ निकल लेता है. पायल उतरे हुए चेहरे से उर्मिला की तरफ देखती है.

पायल : भाभी....मम्मी ने तो सारा काम बिगाड़ दिया.

उर्मिला : शादी में जाना भी तो जरुर है ना पायल. और एक रास्ता बंद होता है तो दूसरा अपने आप खुल जाता है. क्या पता की की कुछ अच्छा हे होने वाला हो? तू दिल छोटा मत कर.

पायल छोटा मुहँ लिए धीरे धीरे अपने कमरें में चली जाती है और उर्मिला रसोई में.

---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
अगला दिन :
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

अगली सुबह रमेश और सोनू घर के आँगन में गाड़ी को साफ़ कर रहे है. रमेश ये काम जल्दी खत्म करना चाहते है ताकि कुछ वक़्त पायल के साथ बिता सके. वो सोनू को बार बार जल्दी करने कह रहे हैं. किसी तरह से गाड़ी साफ़ कर के रमेश घर में आते है. घड़ी में ११ बज रही है. रमेश का दिमाग घूम जाता है. गाड़ी साफ़ करते हुए समय का पता ही नहीं चला. तभी सामने से पायल, उर्मिला और उमा आते हैं. तीनो बाज़ार जाने के लिए तैयार है.

उमा : हो गई गाड़ी साफ़.

रमेश : (गुस्से से) हाँ हो गई और चमक रही है....जा कर अपना चेहरा देख लो...

बाबूजी की बात सुन के उर्मिला को हंसी आ जाती है. उमा मुहँ बनाते हुए आगे बढ़ जाती है. जाते-जाते रमेश पायल को देखता है. पायल भी उदास चेहरे से पापा को देखती है. दोनों के अन्दर दबी ख्वाइशें दब कर ही रह जाती है. आज के लिए जो सपने संजोय थे वो बिखर के चकनाचूर हो जाते है. धीरे धीरे वो तीनो बहार चली जाती है और रमेश माथा पकड़ के सोफे पर बैठ जाता है.

--------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

शाम के ७ बज रहे है. रमेश कुरता और धोती पहन के सोफे पर सबके आने का इंतज़ार कर रहा है. सोनू भी शर्ट और पैंट में पास हे बैठा है और अपने फ़ोन में गेम खेल रहा है. तभी उर्मिला और उमा वहां आते हैं. उमा और उर्मिला ने साड़ी पहनी हुई है. रमेश की नज़र उर्मिला पर पड़ती है. उर्मिला बहुत ही सुन्दर दिख रही है. उस साड़ी में उसके बदन की बनावट उभर के दिख रही है. कुछ पलों के लिए रमेश उसे देखता ही रह जाता है. तभी पायल वहां आती है. रमेश का ध्यान पायल पर जाता है तो उसकी आँखे फटी की फटी रह जाती है. पायल ने हरे रंग की बिना बाहं वाली चोली पहनी है और हलके पीले क्रीम रंग का लहंगा. कंधे पर चुनरी लटक रही है और पायल धीरे धीरे बलखाती हुई चल रही है. आते ही पायल की नज़र रमेश पर पड़ती है. रमेश पायल को बड़ी-बड़ी आँखों से ऊपर से निचे देख रहा है. पायल शर्माती हुई उर्मिला के पास आ कर खड़ी हो जाती है.
Reply
02-12-2022, 01:13 PM,
#19
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
उधर पायल को देख कर सोनू का और भी बुरा हाल है. उसका लंड पैंट में बेचैन हो रहा है जैसे मानो अभी फाड़ के बाहर आ जायेगा. तभी उमा की नज़र पायल पर पड़ती है. वो चल के पायल के पास आती है. वहां मौजूद सभी को येही लगता है की अब पायल को कपड़े बदलने पडेंगे. रमेश का तो मानो मन के खराब हो जाता है. वो चुपचाप मुहँ बना के दरवाज़े के पास चला जाता है.

उमा : (पायल के गाल पर हाथ रखते हुए) कितनी प्यारी लग रही है मेरी बेटी...

ये सुनकर पायल और उर्मिला के चेहरे पर मुस्कान आ जाती है. सोनू भी खुश हो जाता है की अब दीदी की बदन को अच्छे से देख पायेगा.

उर्मिला : देख क्या रही है पायल? मम्मी जी के पैर पढ़ ...

पायल उमा के पैर पढ़ती है और उमा उसके सर पर हाथ रखती है.

उमा : जुग-जुग जियो बेटी...

उर्मिला : अब चलिए भी....नहीं तो खाना ख़तम हो जायेगा...

सभी लोग हँसते हुए बहार आते है. बाबूजी दरवाज़े के बाहर खड़े है. उर्मिला बाबूजी को देखती है और धीरे से पायल को बाबूजी के पैर पढ़ने का इशारा करती है. पायल बाबूजी के पास जाती है.

रमेश : बहुत प्यारी लग रही हैं मेरी बिटिया रानी. एकदम परी जैसी.

उर्मिला : बाबूजी...ये तो पापा की परी है...हैं ना पायल ?

पायल भाभी की बात सुन के शर्मा जाती है और नज़रें नीची कर लेती है. उर्मिला सोनू और उमा के पास जा कर बातें करनी लगती है ताकि उनकी नज़र बाबूजी और पायल पर ना पड़े. पायल झुक के बाबूजी के पैर पढ़ती है.

रमेश : हमेश खुश रहो बिटिया...अपने पापा का नाम रोशन करो...

रमेश पायल के कंधो को पकड़ के उसे उठाने लगते है. थोडा ऊपर आते ही पायल की लो कट चोली से उसकी गहराई दिखने लगती है. रमेश के हाथ वहीँ रुक जाते है. पायल भी समझ जाती है की पापा को बहुत समय बाद ये नज़ारा देखने मिल रहा है तो वो भी वैसे ही झुकी रहती है. रमेश उसके कंधो को पकडे, धीरे से एक ऊँगली उसकी बगल में घुसा देता है. ऊँगली घुसाते ही रमेश को अपनी ऊँगली गीले महसूस होती है. वो एक दो बार अपनी ऊँगली पायल की बगल में अन्दर बहार करते है और फिर पायल का कन्धा पकड़ के उसे खड़ा कर देते है.

रमेश : अच्छा बेटी...चलो अब चलते है. गाड़ी में बैठो...

पायल खुश हो कर गाड़ी की तरफ जाने लगती है. रमेश झट से अपनी ऊँगली जो उसने पायल की बगल में डाली थी उसे अपनी नाक के पास ला कर एक जोर की साँसे लेता है. पायल के बगल की पसीने और परफ्यूम की मिश्रित खुशबू उसकी प्यास और बढ़ा देती है.उर्मिला बाबूजी की ये हरकत देखती है और समझ जाती है की बाबूजी की प्यास अपनी चरम सीमा पर है.
---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

१ घंटे बाद:

रमेश गाड़ी चला रहें है और उनके साथ सामने सोनू बैठा है. उमा और उर्मिला पीछे बैठे है और उन दोनों के बीच पायल. गाड़ी के अन्दर माहौल बड़ा ही हास्यपूर्ण हैं. ठहाके गूंज रहे है, और चुटकुलों की बौछार हो रही है. इस माहौल से रमेश का मूड भी ताज़ा हो जाता है. गाड़ी एक बड़े से पंडाल के पास आ कर रूकती है.

रमेश : लो जी.... आ गया हमारा ठीकाना...तुम सब रुको मई गाड़ी आगे लगा कर आता हूँ.

सभी लोग गाड़ी से उतर जाते हैं. पायल उर्मिला भाभी के साथ खड़ी हो जाती है. वहां खड़े और आते जाते सभी मर्द, बूढ़े और लड़के पायल को घुरें जा रहे है.

उर्मिला : (धीरे से ) देख पायल...तेरी जवानी कैसे कहर ढा रही है. एक बार अपना लहंगा उठा दे तो लंडों का बाज़ार लग जायेगा.

पायल : (मुहँ बनाते हुए, धीरे से) मुझे कोई लंड-वंड नहीं लेना किसी भी लंड के बाज़ार से....

उर्मिला : हाँ हाँ...मेरी चुदासन ननद....तुझे जो लंड चाहिए वो तो अभी आ रहा है ना....

तभी गाड़ी पार्किंग में लगा कर रमेश सामने से आते दिखाई देते है.

उर्मिला : ले...आ गया तेरा लंड...

रमेश वहां आते है और सभी पंडाल के अन्दर चले जाते है. पंडाल काफी बड़ा है और शहर से बाहर एक बड़े से मैदान में लगाया गया है. मैदान के सामने चालू सड़क है और पीछे बहुत से पेड़ लगे है, १-२ की.मी. का छोटा सा जंगल ही समझो. अन्दर जाते ही रमेश को कुछ पुराने दोस्त मिल जाते है और वो उनके साथ लग जाते हैं.

उमा : ये शादी में आयें हैं या अपने दोस्तों से मिलने.

उर्मिला : छोड़िये ना मम्मी जी...दूल्हा-दुल्हन से हम ही मिल लेते है. बाबूजी बाद में मिल लेंगे...

उमा मुहँ बनाते हुए उर्मिला, पायल और सोनू के साथ दूल्हा-दुल्हन से मिलने जाती है. माता-पिता और सभी रिश्तेदारों से मिलते मिलाते वो सभी दूल्हा-दुल्हन के पास पहुँचते है. दोनों उमा को देखते ही उनके पैर पड़ने लगते है.

उमा : हमेशा खुश रहो, सदा सुहागन रहो. भगवान तुम दोनों की जोड़ी हमेशा ऐसी हे बनाये रखे....(अपने परिवार की तरफ इशारा करते हुए)...ये मेरी बहु है उर्मिला, ये मेरा बेटा सोनू और ये मेरी बेटी पायल...

तीनो दूल्हा-दुल्हन को बधाई देते है. दुल्हे की नज़र पायल पर टिक जाती है. वो खड़े-खड़े पायल की चोली में झांकने की कोशिश कर रहा है. दुल्हन की नज़र उस पर पड़ती है वो वो उसे आँख दिखा देती है. ये नज़ारा उर्मिला और पायल देख लेती है. दोनों अपने मुहँ पर हाथ रख कर हँसते हुए वहां से निकल लेती है.

उर्मिला : पायल तू तो शादी से पहले ही इनका तलाक करवा देगी.

पायल : मैं क्या करूँ भाभी? वो मुझे देख ही ऐसे रहा था. अब किसी को देखने से तो मैं रोक नहीं सकती ना?

दोनों में हंसी मजाक का दौर चल रहा है और वहां बाबूजी अपने दोस्तों से विदा ले कर दूल्हा-दुल्हन से मिलते है. उनसे मिलने के बाद वो सभी को ढूंढते हुए यहाँ-वहां देखने लगते है. यहाँ उमा सभी के साथ अपने रिश्तेदारों में व्यस्थ है. बातों में पता चलता है की खाने में अभी देर लगेगी. कुछ देर पहले तेज़ हवा चली थी तो खाने में धुल मिटटी चली गई. ये सुन कर सभी का मूड खराब हो जाता है. सभी इस बात से निराश है की अभी और रुकना पड़ेगा. तभी बाबूजी भी वहां आ जाते है.

उमा : आ गए आप? मिल गई फुर्सत?

रमेश : हाँ मिल गई...अब क्या करना है वो बताओ...

उमा : करना क्या है...खाने हवा से धुल-मिटटी चली गई थी. अब तो देर लगेगी....

उर्मिला : रुकना तो पड़ेगा हे मम्मी जी...घर जा कर कौन खाना बनाये?

उमा : हाँ बहु...रुक ही जाते है. चलो .... मैं तुम लोगों को बाकी रिश्तेदारों से मिलवाती हूँ...

पायल उर्मिला का हाथ पकड़ के मुहँ बनाते हुए सर हिलाती है और 'ना' का इशारा करती है. उर्मिला समझ जाती है की पायल का मम्मी जी के साथ जाने का दिल नहीं है.

उर्मिला : चलिए मम्मी जी....अरे पायल...तुझे गोलगप्पे खाने थे ना? जा खा ले....

उमा : अरे बहु ...इसे कहाँ गोलगप्पे खाने भेज रही है? इसे भी साथ चलने दे...

उर्मिला : मम्मी जी...भूकी होगी ना ये बेचारी...घर में हे कह रही थी की भाभी कुछ खाने दे दीजिये ...बड़ी भूक लगी है.

उमा : अच्छा ठीक है...लेकिन ज्यादा इधर-उधर मत घूमना...गोलगप्पे खा कर सीधे आ जाना.

पायल : जी मम्मी जी.... (पायल वहां से चल देती है)

रमेश : उमा...मैं भी अपने दोस्तों के पास हे चला जाता हूँ. तुम औरतों के बीच मैं क्या करूँगा?

उमा : हाँ जी आप भी जाईये .... सबके सामने उतरे हुए मुहँ से तो अच्छा है की आप अपने दोस्तों के साथ ही रहें....

उमा उर्मिला और सोनू के साथ चली जाती है. रमेश भी धीरे धीरे टहलता हुआ सजावट देखते हुए आगे बढ़ता है. उसकी नज़र सजावट को देखते हुए पानी की बड़े से ड्रम की तरफ जाती है. वो पानी पीने के लिए आगे बढ़ता है तभी उसे पायल दिखाई देती है. पायल पंडाल के एक कोने पर कड़ी है. पंडाल का कपड़ा वहां से थोड़ा खुला हुआ है. पायल बाबूजी को देख रही है. बाबूजी यहाँ-वहां देखते है और फिर पायल को देखने लगते है. कुछ क्षण पायल बाबूजी को वैसे ही देखती है फिर अपने दोनों हाथों को उठा कर एक अंगडाई लेती है. बिना बाहं की चोली होने से पायल की बगल दिखने लगती है जिसमे हलके रेशमी बाल दूर से ही दिखाई दे रही है. ये देख कर बाबूजी के मुह में पानी आ जाता है. पायल अंगडाई ले कर बाबूजी को देखते हुए धीरे से पंडाल के उस खुले हुए हिस्से से बहार निकल जाती है. रमेश पानी का गिलास उठा के गटागट पानी पी जाता है और यहाँ-वहां देखता है. जब वो देख लेता है की किसी की नज़र उस पर नहीं है तो वो भी धीरे से उसी जगह से बाहर निकल जाता है. बाहर जाते ही उसकी नज़रें पायल को ढूंढने लगती है. पायल पास ही खड़ी ऊँगली मुहँ में ले कर नाख़ून काट ते हुए कुछ सोच रही है. रमेश की नज़र पायल पर पड़ती है तो वो पायल के पास जाता है.

रमेश : अरे पायल...तू अकेले यहाँ क्या कर रही है बेटी?

पायल : कुछ नहीं पापा....ऐसे ही...

रमेश : (पायल के सर पर हाथ फेरते हुए) ऐसे ही क्या बेटी? कुछ तो बात है. बताएगी नहीं अपने पापा को?

पायल : (पापा की तरफ घुमती है और उतरे हुए चेहरे से कहती है) पापा ...मुझे जोरो की पेशाब लगी है. यहाँ का बाथरूम बहुत गन्दा है. मैं निचे बैठूंगी तो मेरा लहंगा ख़राब हो जायेगा...सोच रहीं हूँ की क्या करूँ..

पायल की बात सुन कर रमेश खुश हो जाता है. वो धीरे-धीरे उसके सर पर हाथ फेरने लगता है.

रमेश : इसमें इतना परेशान होने की क्या बात है पायल? यहीं-कहीं कर ले....यहाँ कौन आ रहा है?

पायल : नहीं पापा...कोई आ गया तो? यहाँ मुझे शर्म आ रही है....

रमेश ख़ुशी के मारे पागल सा हो जाता है. उसकी नज़रें किसी सुनसान ठीकाने को ढूढ़ते हुए यहाँ-वहां दौड़ने लगती है. तभी उसकी नज़र सामने बड़े-बड़े पेड़ो पर पड़ती है. पेड़ों के पीछे अन्धीरा भी है और वो पंडाल से दूर भी है. रमेश की ख़ुशी का ठीकाना नहीं रहता.

रमेश : एक काम कर पायल...वो दूर सामने पेड़ दिखाई पड़ रहे हैं ना...तू वहीँ जा कर पेशाब कर ले. वहां तो ना कोई आएगा और ना ही किसी की नज़र पड़ेगी.

पायल : हाँ पापा....पर वहां तो बहुत अँधेरा है. और मुझे अँधेरे से बहुत डर लगता है.

रमेश : (अपनी मुस्कान पर काबू पाते हुए) कोई बात नहीं बिटिया....मैं चलता हूँ ना तेरे साथ...तू अराम से पेशाब करना और मैं वहीँ तेरे साथ रहूँगा.

पायल : (ख़ुशी से) ठीक है पापा...लेकिन आप ध्यान देना की कोई आने ना पाए....

रमेश : तू चिंता ना कर बेटी...मेरे सिवा और कोई नहीं आएगा...

दोनों बाप बेटी पेड़ों की तरफ बढ़ने लगते है. पायल आगे अपनी चुतड हिलाते हुए चल रही है और पीछे रमेश अपना लंड मसलते. तभी पंडाल के अन्दर डी.जे पर गाना बजने लगता है, "कमरिया ssss, कमरिया ssss, कमरिया कोरे लपालप ...लोलीपोप लागेलु......". गाना सुनते ही पायल को मस्ती सूझती है. वो गाने पर अपनी कमर और ज्यादा दायें-बाएं हिलाते हुए चलने लगती है. उसके पीछे चलते बाबूजी का ये देख कर बुरा हाल हो जाता है. गाने के बोल पर पायल की कमर और चुतड दोनों बराबर से हिल रही है. बाबूजी को पायल की चुतड किसी दो बड़े गोल गोल लोलीपोप की तरह दिख रही है जो आपस में चिपकी हुई है और उनका मन उसके बीच जीभ डाल कर चाटने का कर रहा है. दोनों चलते हुए पेड़ों के पास पहुँच जाते है. रमेश एक बार पेड़ के पीछे जा कर देखते है की वहां से कुछ दीखता है या नहीं. कुछ दिखाई नहीं दे रहा इस बात को सुनिश्चित कर वो पायल से कहते है.

रमेश : पायल बेटी...इस पेड़ के पीछे बैठ कर अराम से पेशाब कर लो. यहाँ से तुम्हे कोई भी नहीं देख पायेगा...

पायल बाबूजी को मुस्कुराते हुए देखती है और अपनी चुतड हिलाते हुए पेड़ के पीछे चली जाती है. बाबूजी पास ही खड़े उसे देखने की कोशिश करते है लेकिन कुछ दिखाई नहीं देता. बाबूजी ने जहाँ सोचा था पायल उस जगह पर नहीं बैठी थी. बाबूजी को अपने आप को एक तमाचा जड़ने की इच्छा हुई. तभी बाबूजी के कानो में पायल की धीमी आवाज़ आती है, "पापा...इधर आएना प्लीज...". पायल की पुकार सुनते ही रमेश का लंड जोर का झटका लेता है. वो तेज़ क़दमों से पेड़ के पीछे जाता है. सामने का नज़ारा देख कर उसके दिल की धड़कन बढ़ जाती है. सामने पायल रमेश की तरफ पीठ कर के पेशाब कर रही है. वो दोनों हाथो से लहंगे को दोनों तरफ से थोडा उठा रखा है. रमेश के कानो में पायल के पेशाब की मोटी धार की "सुर्र्रर्र्र्रर्र्रसुर्र्र्रर्रर" की आवाज़ साफ़ पड़ रही है. कुछ पल वो पायल को देखते हुए पेशाब की उस सुरली आवाज़ को ध्यान से सुनता है, फिर पायल से कहता है.

रमेश : अ..आ...हाँ पायल...क्या हुआ बेटी?

पायल : (थोडा बचपना दिखाते हुए) देखिये ना पापा....मेरा लहंगा पीछे से ज़मीन पर लगा हुआ है...ऐसे तो ये मेरी पेशाब से भीग जायेगा...आप प्लीज इसे ऊपर उठा के रखिये ना....

ये सुनते हे रमेश के चेहरे पर बड़ी सी मुस्कान छा जाती है. वो एक बार अपने लंड को धोती पर से जोर से मसलता है और यहाँ-वहां देखकर किसी के ना होने की पुष्टि कर धीरे से पायल के पास जाता है.

........................
Reply

02-12-2022, 01:13 PM,
#20
RE: Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड
अपडेट १४.५ :

ये सुनते हे रमेश के चेहरे पर बड़ी सी मुस्कान छा जाती है. वो एक बार अपने लंड को धोती पर से जोर से मसलता है और यहाँ-वहां देखकर किसी के ना होने की पुष्टि कर धीरे से पायल के पास जाता है.

रमेश : पायल बेटी..!! तेरा लहंगा तो सच में पीछे से ज़मीन पर लग रहा है.

पायल : हाँ पापा...तभी तो आपको बुलाया है. इस पीछे से उठा दिजियेना प्लीज....

रमेश कांपते हुए हाथों से पायल का लहंगा पीछे से उठाते हैं. लहंगा उठते ही पायल की गोरी और चौड़ी चुतड की झलक उन्हें दिख जाती है. लहंगा उठा के पायल के पीछे ही रमेश भी बैठ जाता है. गोरी गोरी चुतड उसकी आँखों के सामने है और कानो में पेशाब की सुर्र्र्रर्ररसुर्र्र्रर की आवाज़ से उसका लंड अकड़ने लगता है. वो एक हाथ से अपना लंड बाहर निकालता है और लंड पकड़े हुए हुए धीरे से निचे झुकता है. निचे झुकते ही रमेश को पायल की गोल गोल चूतड़ों के बीच घने बाल दिखाई देते है. फैली हुई चुतड और बालो के बीच पायल के गांड का छेद बेहद कसा हुआ दिख रहा है. पायल जब पेशाब करने में जोर लगाती वो उसकी गांड का छेद अन्दर की तरफ सिकुड़ जाता और फिर वापस अपने आकर में आ जाता. ये नज़ारा देख कर रमेश अपनी जुबान ओठों पर फेरने लगता है. उसका दिल करता है की अपनी मोटी जीभ उसी वक़्त पायल की गांड के उस कसे हुए छेद में पेल दे. रमेश थोडा और निचे झुकता है तो उसे पायल की बालों से घिरी बूर दिखाई देती है जिसमे से पेशाब की एक मोटी धार सुर्र्र्ररसुर्र्र की आवाज़ करती हुई ज़मीन पर गिर रही है. रमेश को पायल के बूर से निकल कर ज़मीन पर गिरती वो पेशाब की मोटी धार किसी झरने सी दिखाई देती है. उसका दिल करता है की पायल की टांगों के बीच अपना मुहँ ले जा कर वो उस झरने का पानी पी ले. तभी उसके कानो में पायल की मीठी आवाज़ आती है.

पायल : पापा...मेरा लहंगा भीग तो नहीं रहा है ना?

रमेश : (सपनो की दुनिया से बाहर आता हुआ) नहीं नहीं बिटिया रानी. तेरे पापा लहंगे को ऊपर उठा के है.

पायल : थैंक्यू पापा...आप नहीं होते तो मेरी ड्रेस ख़राब हो जाती.

रमेश : कोई बात नहीं बिटिया...(फिर उसके बहते पेशाब को देख कर) पायल...आज तो तू बहुत पेशाब कर रही है बिटिया...

पायल : अभी तो और वक़्त लगेगा पापा...जब तक मैं अच्छे से पेशाब नहीं कर लेती तब तक मैं ऐसे ही बैठी रहती हूँ.

पायल बीच बीच में अपनी चुतड पीछे से उठा देती तो रमेश को उसकी चुतड, गांड का छेद और बालों से घिरी बूर के दर्शन हो जाते. अब रमेश से रहा नहीं जाता. उसका दिल करता है की पायल को वहीँ पटक के उसकी बूर में लंड ठूँस दे लेकिन वो ऐसा नहीं करना चाहता. वो चाहता है की पायल खुद ही अपने मुहँ से कहे की "पापा ...मेरी चुदाई कर दीजिये". तभी पायल कहती है.

पायल : पापा ...वो सामने खेत देख रहे हो आप?

रमेश देखता है तो उसे कुछ दिखाई नहीं देता..

रमेश : नहीं बेटी...सामने तो कोई खेत दिखाई नहीं दे रहा...

पायल अपना लहंगा पकड़े, पीछे से चुतड उठा देती है. ज़मीन पर घुटने मोड़ के बैठे रमेश के सामने उसकी चुतड खुल के दिखने लगती है. पायल की बूर अब बालों के बीच से दिखाई देने लगी है. डबल रोटी की तरह फूली हुई बूर देख कर रमेश के होश उड़ जाते है.

पायल : ध्यान से देखिये ना पापा...खेत तो आपके सामने ही है.

रमेश समझ जाता है की वो खेत कहीं और नहीं, पायल की जांघो के बीच ही है.

रमेश : ह...हाँ ...हाँ पायल...अब दिखाई दे रहा है खेत..

पायल : कैसा लगा आपको खेत पापा?

रमेश : छोटा सा है बेटी...खेत पर तो घांस भी काफी उग आई है...

पायल : आपको खेत पर घांस पसंद है पापा?

रमेश : हाँ बेटी...बहुत पसंद है...घासं से तो खेत हरा-भरा दीखता है....

पायल : और क्या दिख रहा है पापा खेत में?

रमेश : बेटी ये खेत तो त्रिकोने आकार का है. खेत के उपरी हिस्से में घनी घासं उगी हुई है और दोनों तरफ हलकी. और बिटिया, खेत के बीच में एक लम्बी फैली हुई नहर दिख रही है जिसमे से पानी बह रहा है. खेत के ठीक निचे एक छोटा सा कुआं भी है जो लगता है बंद पड़ा है. कुएं को खोलने के लिए बड़ी मेहनत करनी पड़ेगी....

पापा के मुहँ से अपनी हे बूर और गांड के छेद की बात सुन कर पायल की बूर पानी छोड़ने लगती है.

पायल : पापा ये खेत जुताई के लिए तैयार हो गया है क्या?

रमेश : हाँ बिटिया...पूरी तरह से तैयार....तेरे पापा ने बड़े-बड़े खेत जोते है लेकिन ऐसा प्यारा खेत कभी नहीं जोता. इसकी ज़मीन भी बहुत टाइट दिखाई पड़ रही है. पापा को अपने मोटे हल से इसे जोतने में बड़ा मजा आएगा.

ये सुनकर पायल की साँसे तेज़ हो जाती है और बूर फुदकने लगती है.

पायल : बहुत जोर-जोर से जोतियेगा क्या पापा इस खेत को?

रमेश : (जोश में) हाँ बेटी....इस खेत में तो पापा अपना मोटा हल उठा-उठा के डालेंगे. घंटो इस खेत की जुताई करेंगे. जब पूरा खेत अच्छे से जुत जायेगा तो इसकी गहराई में बीज बो देंगे.

पायल : उफ़ पापा...आप बीज भी बो दोगे क्या?

रमेश : हाँ पायल...बिना बीज बोये खेत की जुताई कभी पूरी नहीं होती....

दोनों बाप-बेटी की हालत खराब हो जाती है. पायल की बूर फ़ैल गई है और रमेश के लंड ने विकराल रूप ले लिया है. तभी जेब में रखा रमेश का फ़ोन बजने लगता है. रमेश अपने लंड को छोड़ फ़ोन कपड़ों में ढूढ़ने लगता है. पायल का लहंगा उसके हाथ से छुट जाता है और वो सीधे कड़ी हो जाती है. अपना फ़ोन निकाल के रमेश कान में लगता है.

रमेश : हे..हे..हेलो ...!!

उधर से उमा की आवाज़ आती है.

उमा : कहाँ हो जी आप? दोस्तों के साथ शराब पीने तो नहीं बैठ गए?

रमेश : (हिचकिचाता हुए) अ..अ..अरे नहीं उमा. मैं तो बस....

उमा : बस-वस छोड़िये...आप पहले जल्दी आईये यहाँ...और जरा पायल को भी देखिये...पता नहीं कौनसे गोलगप्पे खा रही है...

रमेश : हाँ..हाँ..मैं देखता हूँ अभी...तुम फ़ोन रखो...

रमेश फ़ोन रखता है और पायल को देखता है. उसके चेहरे पर उदासी छाई है और चेहरा उतर गया है. रमेश भी निराशा भरी नज़रों से उसे देखता है. दोनों समझ जाते है की अब यहाँ काम नहीं बनेगा. पायल उतरा हुआ चेहरा ले कर पंडाल की तरफ जाने लगती है. पीछे-पीछे रमेश भी उमा को मन हही मन गालियाँ देता चलने लगता है.

..............................
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  बहू नगीना और ससुर कमीना sexstories 139 882,237 09-17-2022, 07:38 PM
Last Post: aamirhydkhan
Lightbulb Behan Sex Kahani मेरी प्यारी दीदी sexstories 46 733,035 09-13-2022, 07:25 PM
Last Post: Ranu
Star non veg story नाना ने बनाया दिवाना sexstories 109 731,925 09-11-2022, 03:34 AM
Last Post: Gandkadeewana
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 23 580,578 09-10-2022, 01:50 PM
Last Post: Gandkadeewana
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 42 417,820 09-10-2022, 01:48 PM
Last Post: Gandkadeewana
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 163 1,666,457 08-28-2022, 06:03 PM
Last Post: aamirhydkhan
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 46 235,668 08-27-2022, 08:42 PM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Indian Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल (माँ-बेटा:-एक सच्ची घटना) desiaks 101 310,185 08-07-2022, 09:26 PM
Last Post: Honnyad
Star Chodan Kahani हवस का नंगा नाच sexstories 36 379,897 07-06-2022, 12:04 PM
Last Post: Burchatu
Tongue Maa ki chudai मॉं की मस्ती sexstories 71 768,285 07-01-2022, 06:30 PM
Last Post: Milfpremi



Users browsing this thread: 87 Guest(s)