XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
04-11-2022, 01:22 PM,
#21
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
( भाग-7)
हमारी यादगार रात.
[मैं मानस ]

खाना खाने के बाद मैं बिस्तर पर बैठा छाया का इंतजार कर रहा था. आज हमारी नए घर में पहली रात थी. मैं इस रात को यादगार बनाना चाहता था. छाया आने में विलंब कर रही थी. मैं अधीर हो रहा था. तभी मैंने छाया को आते देखा उसने एक सुर्ख लाल रंग की नाइटी पहनी हुई थी. नाइटी बहुत ही खूबसूरत थी तथा हल्की पारदर्शी भी थी. छाया के पीछे पीछे माया आंटी भी हमारे बेडरूम तक आ गई थीं. मैं बिस्तर पर पायजामा कुर्ता पहन कर लेटा हुआ था. मैं उठ कर बैठ गया उन्होंने छाया का हाथ मेरे हाथ में देते हुए बोला मैं तुम दोनों के प्रेम संबंधों को स्वीकार कर चुकी हूं. छाया तुम्हारी प्रेयसी है. पर जिस तरह से तुमने इसका ख्याल रखा है विवाह तक उसी तरीके से इसका ख्याल रखना. तुम्हारा दिया गया वचन मुझे बहुत भरोसा दिलाता है. उन्होंने छाया की तरफ भी देख कर कहा...

“मानस का अच्छे से ख्याल रखना..” कह कर उन्होंने छाया के हाथ में चिकोटी काटी और मुस्कुराते हुयीं वापस चली गयीं.

छाया ने शयन कक्ष का दरवाजा बंद किया और मेरे पास आ गई. मुझे माया आंटी का छाया को इस तरह मुझे सौपना अत्यधिक उत्तेजक लगा. छाया के लिए आज का दिन बहुत विशेष था उसने यह

नाइटी शायद इसी दिन के लिए खरीदी थी. बिस्तर पर आने के बाद वह मुझे बेतहाशा चूमने लगी. हम दोनों एक दूसरे को प्यार करने लगे. कुछ ही देर में हमारे वस्त्र हमारा साथ छोड़ते गए. हमने अपना प्यार अपने पुराने अंदाज में हीं शुरू किया.

वयस्क पुरुषों और स्त्रियों का प्यार हर बार एक जैसा ही होता है परंतु उसमें नयापन और ताज़गी छोटे-छोटे परिवर्तनों से लाई जा सकती पर आज तो बहुत बड़ा दिन था.

छाया मेरे राजकुमार को दोनों हाथों में लेकर बहुत प्यार से उसे

सहला रही थी. उसने मेरी तरफ देखते हुए कहा

“माँ ने इसे मेरी राजकुमारी को रानी बनाने की अनुमति दे दी है. बस उस दिन का इंतजार है”

इतना कहकर छाया ने राजकुमार को चूम लिया. अचानक छाया ने पास पड़ी हुई अपनी नई नाइटी को उठाया और मेरे चेहरे पर डाल दिया. उसने मुझे हिदायत दी “जब तक मैं ना कहूं अपनी आंखें मत खोलिएगा”

मुंह पर उसकी नाइटी पड़े होने की वजह से मुझे कुछ दिखाई नहीं पड़ रहा था मैंने अपनी आंखें बंद कर ली और नाइटी से उसके बदन की खुसबू लेने लगा. उसकी उंगलियां मेरे राजकुमार के ऊपर अपना करतब दिखा रहीं थीं. मैंने छाया को छूना चाहा पर वह पास नहीं थी मेरे लहराते हाथों को देखकर समझ गई कि मैं उसे छूना चाहता हूं. उसने उठकर अपने आपको व्यवस्थित किया. अब उसकी कमर मेरे दाहिने कंधे के पास थी. मैं उसके नितंबों को अपने दाहिने हाथ से आसानी से छु पा रहा था. मेरी उंगलियां खुद ब खुद उसकी राजकुमारी के होंठों के बीच में घूमने लगी. उसकी राजकुमारी गीली हो रही थी. गीले और चिपचिपे होंठों में उंगली फिराने का सुख अप्रतिम होता है. छाया की उंगलियां मेरे राजकुमार को तरह-तरह से छेड़ रहीं थीं और वह पूरे मन से फुदक रहा था.

अचानक मुझे अपने लिंग पर किसी गर्म चीज का एहसास हुआ. मैं समझ नहीं पा रहा था कि यह क्या है? राजकुमार के मुख पर गर्मी धीरे-धीरे बढ़ती जा रही थी. ऐसा लग रहा था जैसे उसका संपर्क राजकुमारी से हो रहा है. परंतु राजकुमारी तो मेरी उंगलियों के साथ खेल रही थी. अचानक मुझे अपने लिंग पर कोई चीज रेंगती हुई महसूस हुई. यह एक अद्भुत अनुभव था. मेरा राजकुमार एक अनजाने गुफा की दहलीज पर खड़ा था. अचानक ऐसा प्रतीत हुआ जैसे लिंग
गुफा की तरफ जा रहा और वह अनजानी चीज उससे रगड़ खा रही हैं. मुझे छाया के दातों की रगड़ अपने लिंग पर महसूस हुयी . मैं समझ गया कि छाया ने आज मेरा मुखमैथुन करने का मन बना लिया है. मैं इस आनंद से अभिभूत हो गया. छाया ने आज तक राजकुमार को अपने मुह में नहीं लिया था सिर्फ चूमा था. पर आज मेरी प्यारी छाया ने मुझे नया सुख देनी की ठान ली थी.

छाया अपने मुख से मेरे लिंग के चारों तरफ घेरा बना ली थी और होंठों को गोल करके वह उसे एक सुरंग का आकार दे रही थी. वह अपना मुंह बार-बार आगे पीछे करती और मेरा लिंग पूरी तरह मचलने लगता.
Smart-Select-20201218-103037-Video-Player
उसकी राजकुमारी भी लगातार प्रेम रस बहाए जा रही थी. मुझे अपनी ब्लू फिल्मों की शिक्षा याद आ गई. और मैंने छाया के नितंबों को पकड़कर अपनी ओर खींचा. मैंने उसका एक पैर अपने सीने के दूसरी तरफ ले आया. अब छाया के

नितम्ब मेरी गर्दन के दोनों ओर थे. मेरी आंखें बंद होने के कारण मैं कुछ देख नहीं पा रहा था पर महसूस कर सकता था.

मैंने छाया की अनुमति से कपड़ा हटा दिया . छाया के गोरे-गोरे नितम्ब मेरे सामने थे. अद्भुत दृश्य था. इतने कोमल और बेदाग नितम्ब .... एसा लग रहा था जैसे दो छोटे चन्द्रमा मेरे सामने जुड़े हुए हों. नितंबो के बीच से उसकी दासी स्पष्ट दिखाई पड़ रही थी. दासी से कुछ ही नीचे छाया

की राजकुमारी के होंठ दिखाई पड़ रहे थे. रस में भीगे होने के कारण ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे किसी फल को दो टुकड़ों में काट दिया गया हो और उससे फल का रस रिस रिस कर बाहर आ रहा हो.

मैंने छाया को अपनी तरफ खींचा अब मेरी जीभ आसानी से राजकुमारी के होंठों को छू सकती थी. मैंने राजकुमारी के होंठों में अपनी जीभ फेरनी शुरू कर दी. छाया उछलने लगी. छाया ने अपना मुख वापस मेरे राजकुमार पर रख दिया था. अब हम दोनों इस अप्रतिम सुख को महसूस कर पा रहे थे. मेरे राजकुमार स्खलित होने के लिए पूरी तरह तैयार था.

इधर छाया की राजकुमारी भी व्याकुल थी. लग रहा था कि वह कभी भी अप्रत्याशित तरीके से अपने कंपन चालू कर देगी. हम दोनों का चरमसुख लगभग साथ ही आने वाला था.

अंततः राजकुमारी ने कांपना शुरू कर दिया. पर मैंने अपना मुख वहां से हटाया नहीं अपितु उसकी कमर पकड़ कर अपने ऊपर और तेजी से खींच लिया. मेरी नाक भी सीमा के दरारों के बीच आ गइ. जब तक छाया के कंपन होते रहे उसकी राजकुमारी मेरे मुह के अन्दर ही रही. कंपन होते समय ही छाया ने अपनी जीभ और मुख का घर्षण राज्कुम्मार पर पर तेज कर दिया और राजकुमार से यह बर्दाश्त ना हुआ

Smart-Select-20201218-102945-Video-Player
और उसमें अपना लावा उड़ेल दिया. छाया इस अप्रत्याशित हमले के लिए तैयार नहीं थी. वीर्य की पहली धार उसके मुंह में ही गिरी. वो अपना मुंह हटा पाती तब तक वीर्य की कई धार उसके गालों स्तनों पर आ गयी. वीर्य का स्वाद छाया ने पहले भी चखा था पर एक साथ इतना सारा वीर्य ये उसके लिए पहली बार था. वह इसे संभाल नहीं पायी. उसने अपना मुंह खोल दिया. मुह में एकत्रित लावा उसके होठों से गिरता हुआ उसके गर्दन तक पहुंच गया. उसने मेरी तरफ चेहरा किया. यह दृश्य देखकर मैं मुझे ब्लू फिल्मों की याद आ गई. इतना कामुक कर देने वाला दृश्य था. मेरी कोमल और मासूम छाया वीर्य से भीगी हुई अपने होंठों से वीर्य बहाती मेरे पास थी. मैंने उसे अपनी बाहों में खींच लिया. उसके स्तन अब मेरे स्तनों से टकराने लगे. उसकी राजकुमारी मेरे राजकुमार के पास आ चुकी थी. थका हुआ राजकुमार राजकुमारी के संसर्ग में आकर एक दूसरे को चूम रहे थे. छाया ने अपने होंठ मेरे होंठों पर रख दिए. अपने वीर्य को उसके होठों से चूसते हुए मैं उसे प्यार करने लगा.

छाया ने आज जो मुझे सुख दिया था यह किसी प्रेयसी का उसके प्रियतम को दिया गया अप्रतिम उपहार था.

हम दोनों इसी अवस्था में सो गए.
Reply

04-11-2022, 01:22 PM,
#22
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
छाया मेरी मंगेतर..
[मैं छाया]

नए घर में मेरा पहला दिन भी बहुत यादगार था मैंने आज मानस को वह दिया था जिसका शायद वह हमेशा से इंतजार करते थे. पहले मुझे मुखमैथुन के बारे में बिल्कुल भी जानकारी नहीं थी. मेरे लिए यह कल्पना से परे था कि कोई किसी के गुप्तांगों को किस तरह अपने मुंह से छू सकता है. मेरे लिए राजकुमार और राजकुमारी का आपस में मिलन ही पर्याप्त था पर कामुकता की सीमा किस हद तक जा सकती

हैं यह मुझे समय के साथ-साथ मालूम चल रहा था. मेरी सहेलियों ने मुझे इस बारे में बताया तो मुझे इसका पता चला. वैसे तो राजकुमारी दर्शन के दिन मानस ने मेरी राजकुमारी को अपने होठों से छुआ था और मुझे इस स्खलित भी किया था तथा मेरे प्रेम रस को उन्होंने अपने होठों से छुआ था और मुझे भी चुंबन दिया था पर वह दिन मेरे लिए एक ही दिन में कई सारी नई चीजें लेकर आया था. मैं यह नहीं समझ पा रही थी कि मानस ने कैसे उस दिन मेरी राजकुमारी को छुआ और भी अपने मुख से चूमा.

उसके बाद भी मानस ने कई बार मेरी राजकुमारी को चुमने की कोशिश की पर मैंने उन्हें रोक लिया था. जिस कार्य को मैं नहीं कर सकती थी उन्हें उसके लिए प्रेरित करना मेरे लिए उचित नहीं था. पर अब अपनी सहेलियों से इस बारे में इतनी सारी बातें सुनकर मैंने अपना मन बना लिया था. और नए घर में मानस के साथ पहली बार मैंने मुखमैथुन कर लिया था.

मानस ने जब मेरे नितम्बों को अपनी तरफ खींचा तो मैं समझ गई कि उन्हें मेरा मुखमैथुन करने में भी आनंद आता है. शुरू में तो यह कार्य थोड़ा अजीब लगा पर धीरे-धीरे मुझे अच्छा लगाने लगा. राजकुमार के वीर्य का स्वाद मैं पहले भी ले चुकी थी पर सीधा उसे मुंह में लेने का यह पहला अनुभव था. मेरी इस कार्य से घृणा तो लगभग समाप्त हो चुकी थी. अगले कुछ दिनों में मानस को मैंने इसका भरपूर सुख दिया.

पहले दिन जब माँ ने मानस के हाथ में मेरा हाथ देते हुए कहा था कि मानस का ख्याल रखना तभी से मैंने तय कर लिया था कि मानस को हर स्थिति में खुश रखूंगी और उन्हें उनकी सारी इच्छाएं पूरी करुँगी. मेरे लिए वो सब कुछ थे.

अगली सुबह जब मैं अपनी मां से मिली तो मुझे उनके चेहरे पर एक अलग सी चमक दिखाई पड़ी मुझे आशा ही नहीं पूर्ण विश्वास हो गया की आज शर्मा जी के साथ उनकी रात्रि अच्छी बीती है. मुझे उनके लिए अच्छा लग रहा था. आज 10 वर्षों बाद यदि उन्हें यह सुख मिला था तो वह इसकी हकदार थीं. उन्होंने मेरे लिए बहुत त्याग किया था.

अगले कुछ दिनों में मैंने अपनी और मानस की कई इच्छाएं पूरी की. हम दोनों पति पत्नी के जैसे अपने कमरे में रहने लगे थे. मां की पूर्ण सहमति मिलने के बाद मैं भी थोड़ी उच्छृंखल हो गई थी. बगल में शर्मा जी की उपस्थिति जरूर थी पर वह अक्सर अपने कमरे में ही बंद रहते हैं मां रात को उनके कमरे में सोने जाया करती थी बाकी समय वह किचन और घरेलू कार्यों में लगाती.

मैं मानस का इंतजार करती जैसे ही मानस घर में आते मां मुझे उनके पास जाने के लिए बोलती ठीक उसी प्रकार जिस तरह घर की नई बहू को लोग अपने पति के साथ छोड़ देते हैं.

एक अजीब किस्म का रिश्ता बन गया था. विवाह ना होने की वजह से हम दोनों संभोग सुख से वंचित रहे बाकी हमारे बीच में कोई दूरियां नहीं बची थी. मेरे साथ नग्न रहने की उनकी इच्छा भी पूर्ण हो रही थी . रात में हम दोनों एक दूसरे के आगोश में नग्न ही सोया करते. राजकुमार भी मेरा भक्त हो चला था. वह मेरे हाथों में आते ही मचलने लगता. मेरा मुंह उसे चूमने की लिए आगे बढ़ता और वह मेरे मुह में अपनी जगह बना लेता. मानस मेरे बालों को सहलाते रहते और कुछ ही डेरे में मेरा मुह भर जाता. जब मैं नग्न होती मैं अपना मुह खोल देती और सारा वीर्य मेरे होंठो से बहता हुआ मेरे गर्दन और स्तनों पर आ जाता मानस मुझे उठाते और मेरे स्तनों पर लगे वीर्य की अच्छी तरह मल देते.

मानस मेरे लिए कई प्रकार की ब्रा, पैंटी तथा नाइटी लाया करते. कई बार मेरी मां भी मेरे लिए ऐसे आकर्षक वस्त्र लाया करती जो मानस को रिझाने में मुझे काम आते थे. मैंने और मानस ने इस बीच कई बार नग्न होकर एक दुसरे की मालिश भी की. हमने जितना कुछ सीखा था सब कुछ एक दूसरे पर प्रयोग किया और एक दूसरे को खुश करते रहे.

समय तेजी से बीत रहा था हमारी खुशियाँ परवान चढ़ रही थीं.
ब्लू फ़िल्म और छाया
छाया को फिल्में देखना बहुत पसंद था. वह अपने कॉलेज की पढ़ाई में से कुछ समय निकालकर फिल्में जरूर देखती. शायद इससे उसकी कल्पना को उड़ान मिलती थी. एक दिन बातों ही बातों में उसने मुझसे बताया कि कॉलेज की लड़कियां किसी ब्लू फिल्म के बारे में बात करती है.

“ वह क्या होता है” मैं हंस पड़ा मैंने उसे बताया..

“यह फिल्म नायक और नायिका के संभोग के विषय में होती हैं और इसमें बहुत सारी अश्लीलता होती है”. वह इसके लिए अति उत्सुक हो गई वह बार-बार कहती...

“मुझे कम से कम एक बार देखना है” मैंने उसे समझाया यह ठीक नहीं होगा. परंतु वह मेरी बात नहीं मान रही थी...

“ मेरी सारी सहेलियां इन सब चीजों के बारे में बात करती हैं परंतु मैं कुछ नही बोल पाती और सिर झुका कर वहां से हट जाती हूँ.”

मुझे लगा हॉस्टल में रहने वाली उसकी सहेलियां ये सब फिल्में देखती होंगी. मैंने उससे कहा अच्छा ठीक है..

“मैं तुम्हें ऐसी फिल्म दिखाऊंगा.”


वह मुझसे जिद करने लगी . मुझे नहीं पता था की छाया को ऐसी फिल्में दिखाना उचित होगा या नहीं. वह एक मासूम लड़की थी उसमें कामुकता जरूर थी परंतु अभी भी उसमें नवयौवना सी लज्जा और चेहरे पर मासूमियत वैसे ही कायम थी. कोई दूसरा आदमी उसको देखता तो वह कभी नहीं सोच सकता था कि यह सीधी साधी लड़की इतनी कामुक हो सकती है. एसा प्रतीत होता था जैसे मुझे देखकर उसमे कामुकता भर जाती थी. मैंने इस बात को कुछ दिनों के लिए टालना ही उचित समझा.

परंतु एक दिन वह नग्न अवस्था में मेरे साथ प्रेमालाप कर रही थी. उसने मुझसे फिर पूछा “यह डॉगी स्टाइल क्या होता है” मैं निरूत्तर था. उसने

मुझसे कहा...

“अब आपको मुझे ब्लू फिल्म दिखा ही देनी चाहिए मैं अपनी सहेलियों के सामने शर्मिंदा नहीं होना चाहती मैं अभी २२ वर्ष की होने वाली हूं मुझे भी यह सब जानने का हक है. आप मुझे नहीं दिखाओगे तो मैं अपनी सहेलीयों के साथ हॉस्टल में देखूँगी”

मैं मजबूर हो गया था अंततः मैं एक दिन छाया के लिए एक ब्लू फिल्म की सीडी ले आया. वह बहुत उत्साहित थी. उसने शाम को जल्दी-जल्दी माया आंटी के साथ मिलकर खाना पकाया और खाना खाने के बाद माया आंटी को कहा...

“मुझे बहुत तेजी से नींद आ रही है” कहकर फटाफट मेरे कमरे में चली आई अंदर आते ही कहने लगी...

“जल्दी से लगाइए ना”

उसकी बेचैनी देखते ही बनती थी. मैंने कहा...

“कुछ देर और रुक जाओ उन लोगों को सो जाने दो .वरना यदि कहीं पता चल गया तो हम लोग मुसीबत में पड़ जाएंगे.”

ब्लू फिल्म का इस तरह घर में देखना एक अलग अनुभव था. वह मेरी बात मान गई. कुछ समय बाद हुम बिस्तर पर आ चुके थे. मैंने सीडी लगाकर फिल्म चालू कर दी.

छाया बिस्तर पर नंगी लेटी हुई थी मैं भी सीडी प्लेयर पर सीडी लगाकर कूदते हुए बिस्तर पर आ गया. मैंने भी अपने कपड़े पहले ही उतार दिए थे. मैं छाया को बाहों में लिए हुए फिल्म के शुरू होने का इंतजार करने लगा. कुछ ही समय में टीवी में नायक और नायिका

अवतरित हो चुके थे. छाया की मानसिक स्थिति के अनुरूप वह दोनों नग्न ही अवतरित हुए थे. कुछ ही देर में उनकी रासलीला शुरू हो गयी. छाया टकटकी लगाकर उन दोनों को देख रही थी. इस बीच मैंने छाया

को छूने की कोशिश की पर उसने मेरा हाथ हटा दिया. वह पूरी तन्मयता के साथ देख रही थी. नायक और नायिका का संपर्क बढ़ता ही जा रहा था कुछ ही देर में नायक और नायिका मुखमैथुन करने लगे. ब्लू फिल्म की हीरोइन द्वारा नायक का लिंग अपने मुंह में लेने को अति उत्साहित होकर ध्यान से देख रही थी. कुछ ही देर में नायक ने अपना लिंग नायिका की योनी के बजाय उसके गुदाद्वार में प्रविष्ट करा दिया. संभोग के बारे में वह जानती थी परंतु राजकुमार का दासी से मिलन उसने नहीं सोचा था, उसने मुझसे पूछा...

“ऐसा भी होता है क्या?”

मैंने उससे कहा...

“वह देखो सामने हो तो रहा है”

वह हंसने लगी.

दुर्भाग्य से हमारे हाथ गलत सीडी लग गई थी.

उस समय इस प्रकार की फिल्मों की उपलब्धता तो थी परंतु आप अपने पसंद की सीडी नहीं प्राप्त कर सकते थे. यह विक्रेता पर ही निर्भर था कि वह आपके हिस्से में क्या लगता है.

फिल्म का दूसरा दृश्य प्रारंभ हो चुका था. विदेशी मूल के दो नव युवक और युवती रासलीला शुरू कर रहे थे फिल्म के शुरुआती दृश्य में ही नायक और नायिका नग्न थे सर्वप्रथम दोनों नायकों ने नायिका के यौन अंगों को चूसना शुरू कर दिया. एक नायक स्तन तो दूसरा योनि को चूस रहा था. नायिका तरह-तरह की उत्तेजक आवाजें निकाल रही थी. कुछ समय पश्चात नायिका ने दोनों नायकों के लिंग को अपने मुंह में ले लिया और बरी बारी से चूसने लगी जैसे हम लोग कुल्फी चूसते हैं. छाया यह दृश्य अपनी आखें बड़ी करके देख रही थी. वह सोच रही थी क्या ऐसा भी होता है. कुछ ही देर में नायक और नायिका संभोग करने लगे. नायक का लिंग नायिका में प्रवेश करते हैं छाया की आंखें लाल हो गयीं .

छाया पूरी तरह उत्तेजित हो चुकी थी. वह मुझसे लिपट चुकी थी पर उसकी आंखें टीवी पर अटकी थी. कुछ ही देर में नायक और नायिका ने तरह-तरह के करतब दिखाने शुरू कर दिए. वह तरह-तरह के आसन बनाते हुए नायिका की योनि में अपने लिंग को प्रवेश कराता नायिका

उत्तेजित होकर आवाजें निकालती. नायिका दुसरे नायक के लिंग को अपने मुख में लेकर उसे भी उत्तेजित रख रही थी. उन्होंने एसी विभिन्न अवस्थाओं में संभोग किया जो आम इंसानों के बस की बात नहीं थी. मैं यह दृश्य पहले भी देख चुका था इसलिए मेरी उत्सुकता कम थी. मैं यह भली-भांति जानता था कि आम जीवन में ऐसा कर पाना असंभव था.

कुछ ही देर में नायक में अपना लिंग योनि से बाहर निकाल दिया और नायिका की दासी पर अपने लिंग का प्रहार करने लगा. कुछ ही देर में

नायक का लिंग नायिका की दासी के अंदर प्रवेश कर चुका था. तभी दूसरा नायक आया और उसने भी अपना लिंग नायिका को योनी में प्रवेश करा दिया.

छाया की आंखें फटी रह गई. दोनों अपने लिंग को तेजी से आगे पीछे कर रहे थे. नायिका उत्तेजना के साथ साथ दर्द में भी प्रतीत हो रही थी. कुछ देर बाद दोनों ने अपना लिंग बाहर निकाल लिया और नायिका ने उसे अपने दोनों हाथों में ले लिया और तेजी से हिलाने लगी. लगी वीर्य स्खलन प्रारंभ हो गया और दोनों नायकों का सारा वीर्य नायिका के शरीर पर लगा हुआ था. वीर्य का कुछ भाग मुंह में जा चुका था. छाया का शरीर काँप रहा था. वो मुझसे लिपटी हुई थी. मैं उसकी पीठ सहला रहा था.

उसने मेरी और देखा मैंने उसे समझाया यह सब कल्पना लोक है. सब इसकी सिर्फ कल्पना करते है हकीकत में यह सब नहीं होता. इन्हें इस काम के लिए बहुत पैसे दिए जाते हैं. वह मेरी बात सुनी पर समझी या नहीं मैं नहीं जानता लेकिन उसका ध्यान टीवी पर अभी भी लगा हुआ था. कुछ ही देर में हम लोगों ने टीवी बंद कर दी.

उसने मुझे चुम्बन लिया और बोली...

“आपने जरूर पहले ये सब फिल्म देखी थी तभी आपको मुझे अपने वीर्य से भिगोना पसंद है.”

उसने एक बार फिर मेरे होंठों को अपने होंठों के बीच लिया और उन्हें काटते हुए मादक आवाज में कहा

“आपने मेरे सपने पूरे किये हैं मैं आपके करूंगी”

मैंने उसके गाल पर प्यार से चपत लगाई और कहा..

“हट पगली” और उसे नग्न अवस्था में ही अपने आलिंगन में लेकर सो गया.
Reply
04-11-2022, 01:22 PM,
#23
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
छाया और जिम
एक दिन छाया मेरे पास आई और बोली मैंने कई लड़कियों को एक्सरसाइज करते हुए देखा है मैं हमेशा नाजुक कली जैसी रहती हूं वह लोग एक्सरसाइज भी करते हैं और उनके शरीर में एक अलग सा कसाव है. मैं भी चाहती हूं कि मैं भी एक्सरसाइज करूं. मैंने उससे कहा तुम बहुत नाजुक हो और मुझे ऐसे ही बहुत पसंद हो. तुम क्यों इन सब चक्करों में पड़ती हो. तुम्हारी मासूमियत थी तुम्हारा सबसे बड़ा गहना है.

वह शुरू से ही कोमल थी परंतु जैसे जैसे वह जवान हो रही थी उसकी कोमलता में दिन पर दिन वृद्धि हो रही थी.

मैंने उसे समझाया की कोमलता लड़कियों का सबसे बड़ा गहना है फिर भी उसने जिद की मुझे थोड़ी बहुत एक्सरसाइज करनी और मेरे पेट पर चिकोटि काटती हुई बोली देखिए आपका भी पेट निकल रहा है आप भी एक्सरसाइज किया करें. और फिर मुस्कुराते हुए इशारा किया कि आप चाहेंगे तो हम लोग बिना कपड़े के भी एक्सरसाइज कर सकते हैं यह कह कर मुस्कुरा दी. मुझे हंसी आ गई. वह पत्नी की तरह मुझे मना रही थी.

मैंने अपने वाले शयनकक्ष के बगल में सटे कमरे को एक छोटा सा जिम बनाने की सोची.

जब आपके पास पैसे होते हैं तो आपकी इच्छा और हकीकत में ज्यादा अंतर नहीं रहता.

अगले ६-७ दिनों में ही मैं जिम से संबंधित कई सारे छोटे-मोटे सामान ले आया. छाया ने जिम करना प्रारम्भ कर दिया. हम दोनों अपने समय पर जिम करते पर छाया के साथ नग्न होकर जिम करने का जो स्वप्न उसने दिखाया था वो पूरा होना बाकी था.

एक दिन हमें मौका मिल ही गया ऑफिस से आने के बाद मैंने देखा छाया मेरे लिए लेमन टी लेकर खड़ी थी मैंने पूछा आज सिर्फ लेमन टी उसने कहा अभी आपको जिम करना है. उसके बाद ही अच्छा नाश्ता करेंगे.

थोड़ी ही देर में हम दोनों जिम में थे मैं शाम को जिम जरूर करता था पर कुछ देर से. आज सीमा के कहने पर मैं जल्दी ही जिम में आ चुका था मैंने पूछा माया आंटी कहां है उसने बताया कि वह दोनों किसी काम से बाहर गए हुए हैं. मैं समझ गई छाया क्या चाहती है. मेरे बिना कहे वह एकदम नंगी हो गई और मुझे भी अपनी अवस्था में ला दिया.

Smart-Select-20201218-102338-Drive
photo hosting sites
पिछले 10 15 दिनों की जिम की एक्सरसाइज में उसके शरीर में अवश्य थोड़ा कसाव आया पर फूल तो फूल ही होता है मेरे लिए वह अभी भी उतनी ही कोमल थी . मेरे सामने ही उसने जिम मैं कई तरह के आसन करना शुरू कर दिए उसके हर आसन में उसकी राजकुमारी और दासी की एक अलग झलक मिलती जो मुझे अत्यंत उत्तेजित कर रही थी.

जब वह सामने की तरफ झुकती और अपने पैर छूती मुझे पीछे से उसकी राजकुमारी के दर्शन हो जाते. कभी वह अपनी पीठ पीछे

करती तो उसके स्तन भर कर सामने आ जाते और राजकुमारी का स्पष्ट दृश्य सामने से दिखाई पड़ता. उसने यह बात जान ली और बोला कि..

“खाली मुझे देखते ही रहेंगे या एक्सरसाइज भी करेंगे” मैंने इस तरह नग्न अवस्था में एक्सरसाइज करने का सोचा भी नहीं था मेरा लिंग पूरी तरह खड़ा था. तने हुए राजकुमार के साथ एक्सरसाइज करना मुश्किल था. अचानक वह पास आई और बोली...

“आपको याद है फ़िल्म में नायक और नायिका किस तरह के आसन कर रहे थे”

मैंने कहा..

“हां”

वह बोली .. “ हम वही करते हैं ध्यान रहे कि आसन करते समय मेरा

कौमार्य भंग ना हो जाए” मुझे उसकी बात सुनकर हंसी आ गई.

और सच में उसने नायिका द्वारा किए गए लगभग हर हर अवस्था को अपने ऊपर आजमाने की कोशिश की वह मुझे कभी इस तरह झुकाती कभी उस तरह. आधे घंटे में उसने मुझे पूरी तरह थका दिया. हर अवस्था में उसकी राजकुमारी मेरे राजकुमार को अपने आगोश में लेती और फिर छोड़ देती. कभी कभी वह अपनी कमर को आगे पीछे करती जैसे प्रयोग कर रही हो की कि जरूरत पड़ने पर वह यह सब कर पाएगी या नहीं. कुछ ही देर में मैं पूरी तरह थक चुका था मैंने उससे कहा

“ तुम तो उस नायिका के जैसी ट्रेंड हो गई हो”

वह हंसी बोली अरे कुछ ही महीनों में हमारा विवाह हो जाएगा तब आपको खुश करने के लिए इस तरह के आसन करना जरूरी होगा मैं उसी की तैयारी कर रही हूं”

Smart-Select-20201218-102206-Drive
यह सुनकर मैं भी बहुत खुश हो गया और उसे बाहों में भर लिया. वह मेरी तरफ चेहरा करके मेरी गोद में बैठ गयी. मेरा राजकुमार उसकी राजकुमारी से सटा था. हम दोनों ने उनके बीच घर्षण बढ़ा दिया और थोड़ी ही देर में मुझे एक बहुत दिनों बाद “ मानस भैया.......” की कापती आवाज सुनाई दी और हमारे पेट मेरे वीर्य से नहा चुके थे. छाया ने पूझे प्रूरी तरह पकड़ रखा था. छाया के शरीर पर पसीने की बूंदे पहले से थी उसमें मेरा प्रेम रस मिलकर समाहित हो गया था. हम

दोनों पसीने और प्रेम रस से लथपथ बाथरूम की तरफ चल पड़े. भविष्य में हम दोनों के बीच होने वाली संभावित संभोग परिस्थितियों ने मेरी कल्पनाओं को नयी उचाइयां दे दी थीं.
Reply
04-11-2022, 01:23 PM,
#24
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग-8
सीमा और छाया.
[मैं छाया]
कॉलेज का वार्षिक फंक्शन चल रहा था. इसमे कालेज के पुराने विद्यार्थी भी आये थे. मैं इस कार्यक्रम में एक नृत्य प्रस्तुत करने वाली थी. जैसे ही मेरा नृत्य खत्म हुआ एक नवयुवती ने स्टेज के बाहर मुझे रोका...
“मैं सीमा पहचाना मुझे”
“अरे सीमा दीदी आप तो इतनी सुंदर हो गई है मैं तो यकीन
भी नहीं कर पा रही”
“चल झूठी कितनी देर में खाली हो रही हो”
“बस कोई 20 मिनट.”
“ ठीक है”
“मैं तुम्हारा इंतजार करती हूं”
कुछ ही देर में मैं सीमा दीदी के साथ कॉलेज की कैंटीन में बैठी थी. सीमा दीदी गजब की सुंदर हो गई थी. उनके नाक नक्श फिल्मी हीरोइनों की तरह हो गए थे. उनका शरीर ऐसा लगता था सांचे में ढाला गया हो उन्होंने मुझे अपने आलिंगन में ले लिया और बोली..
“अरे मैंने बहुत मेहनत की है इस शरीर को बनाने के लिए तुम तो जानती ही हो पहले में कितनी मोटी और थुलथुली थी”
ऐसा कहकर वह हंस पड़ी फिर हम लोगों ने ढेर सारी बातें की.
उन्होंने मानस भैया के बारे में पूछा . मैंने कहा ..
“ठीक हैं”
“कभी मुझे याद करते हैं”
“हाँ कभी - कभी”
“क्या मानस ने शादी कर ली”
“नहीं अभी तो वह अपनी प्रेयसी के साथ मजे कर रहे हैं “
सीमा ने तुरंत पूछा
“कौन है उनकी प्रेयसी”
“खुद ही मिल लेना एक दिन” कहकर मैंने बात टाल दी. मैंने अपने और मानस के बीच चल रहे संबंधों की उन्हें भनक नहीं लगने दी. आज उनसे मिलकर काफी अच्छा लग रहा था.
सीमा दीदी मेरी मार्गदर्शक रही है वह इंजीनियरिंग कॉलेज में आने से पहले गांव में आई थी. उस साल मानस गांव नहीं आए थे. मैं और सीमा दीदी ही अपना वक्त साथ में गुजारा करते. वह मुझे पढाई के साथ साथ कई बाते बताया करतीं. उनमें सेक्स को लेकर एक विशेष उत्सुकता थी. वह मुझसे भी जिद करती कि मैं अपने अंग उनको दिखाउ और बदले में वह अपने अंग मुझे दिखाएं. मुझे यह सब ज्यादा पसंद नहीं था. पर उनसे संबंध बनाए रखने के लिए कभी कभी उनकी बात मान लेती थी.
मैं और सीमा दीदी अक्सर मिलने लगे वह मुझे कॉलेज से ले लेती मुझे घुमातीं, खाना खिलाती और ढेर सारी बातें कर मुझे घर के लिए रवाना कर देती. उनके साथ मैंने कई शामें बिताई पर मानस से मिलवाने की बात पर मैं उन्हें टाल देती.
लड़कियों के मन में में एक विशेष किस्म का डर होता है मैं सीमा को मानस से शायद मैं इसी डर से नहीं मिलवा रही थी.

छाया का सपना
एक दिन ऑफिस में देर होने की वजह से मैं घर देर से पहुंचा. घर पर छाया सजी-धजी छाया मेरा इंतजार कर रही थी. वह बहुत खुश लग रही थी उसने खूब अच्छा खाना भी बनाया था. खाना खाने के बाद मुझे नींद आने लगी और मैं अपने बिस्तर पर सोने चला गया जब तक छाया आती तब तक मुझे नींद लग चुकी थी. सुबह लगभग 5:00 बजे मुझे कमरे में आह आह की कामुक आवाजें सुनाई दी. मुझे लगा मैं कोई स्वप्न देख रहा हूं. पर मेरी नींद खुल गई मैंने देखा छाया इस तरह की आवाज निकाल रही है. मैं समझ नहीं पा रहा था यह क्या हो रहा है. कितनी मासूम और प्यारी लड़की इस तरह की आवाज निकाल रही जैसे कोई ब्लू फिल्म की हीरोइन निकालती है. वह अपनी कमर भी हिला रही थी.
मैं बहुत देर तक उसका आनंद लेता रहा अचानक उसकी आंखें खुल गई. मैं हंस पड़ा वह बोली “अरे मैं कहां हूं”
मैंने कहा “तुम घर में हो मेरे पास” वह बार-बार अपनी आंखे मीच रही थी और मुझे छूने की कोशिश कर रही थी.
मैंने उसको पकड़ कर हिलाया. वह अब पूरी तरह जाग चुकी थी. मैंने पूछा..
“क्या हुआ”
वह बहुत ज्यादा शर्मा गई . मैंने उससे फिर कहा
“बताओ ना क्या हुआ”
वह बोली
“मैं आपको नहीं बता सकती”
मैंने उससे जिद की. तो उसने कहा अच्छा बताती हूं दो मिनट बाद वह बाथरूम से आइ और मेरी बाहों में आकर लेट गई उसने कहा
“मैंने एक सपना देखा”
“कौन सा सपना. तुम तो की ब्लू फिल्म तरह आवाजें ही निकाल रही थी.”
“आपने बिल्कुल सही पकड़ा मैं वही सपना देख रही थी.”
मैंने उससे कहा..
“ विस्तार से बताओ ना क्या देखा”
छाया ने कहा...
“एक सुंदर सा होटल में कमरा था उस पर सिर्फ बिस्तर दिखाई दे रहा था अगल-बगल की स्थिति समझ पर बिस्तर बहुत खूबसूरत था. उस बिस्तर पर मैं नंगी थी. वहां पर आप भी थे. हम दोनों पूर्णतयः नग्न अवस्था में थे. मैं आपके लिंग को सहला रही थी तभी वहां पर दूसरा व्यक्ति आ गया. वह भी पूर्णतयः नग्न था. वह बार-बार मेरे शरीर को छूने का प्रयास कर रहा था. वह बार-बार अपने लिंग को मेरे हाथों मैं पकड़ा
रहा था और मेरे नितम्बों को सहला था. पता नहीं क्यों यह सब मुझे उत्तेजित कर रहा था. आप भी उसे रोक नहीं रहे थे. अचानक मैंने महसूस किया की अपरिचित आदमी का राजकुमार मेरी राजकुमारी में प्रवेश कर चुका है. और वह बार-बार अपने राजकुमार को अंदर बाहर कर रहा है. आश्चर्य की बात मुझे उस समय किसी दर्द का एहसास भी नहीं हो रहा था. बल्कि अत्यंत मजा आ रहा था और मैं तरह-तरह की आवाजें निकाल रही थी. मैं आपके लिंग को दोनों हाथों से हिला रही थी और वह अपने राजकुमार को मेरी राजकुमारी में पूरी तरह प्रविष्ट कराया हुआ था वह मेरे नितंबों पर अपनी पकड़ बनाए हुए था जैसे ही मेरी राजकुमारी स्खलित होने वाली थी मेरी नींद खुल गई.”
मेरी हंसी छूट पड़ी मैंने मुस्कुराते हुए कहा…
“ मेरी प्यारी छाया अब बड़ी हो गई है उसके सपने भी बड़े हो गए है लगता है मैं अकेले राजकुमारी की प्यास नहीं बुझा पाऊंगा.”
उसने मेरी छाती पर दो मुक्के मारे और अपना सिर मेरी छाती में छुपा लिया. मैंने अपने हाथ उसके नितंबों की तरफ ले गए और उसकी नाइटी को ऊपर कर दिया. मैंने अपनी हथेली से राजकुमारी को सहलाया तथा उसके होठों के बीच में अपनी उंगलियां रख दी छाया पहले से ही बहुत ज्यादा उत्तेजित थे कुछ ही देर में मैंने उसके राजकुमारी के कंपन महसूस कर लिया वह मुझसे लिपट चुकी थी. मैं उसे गालों पर चुंबन देते हुए उसे वापस हकीकत में लाने की कोशिश कर रहा था.
ब्लू फिल्मों का छाया के मन पर गहरा असर पड़ा था यह बात मुझे अब समझ में आ रही थी.

कुठाराघात
मंजुला चाची का आगमन
मैं, छाया और माया आंटी अपने नए घर में बहुत प्रसन्न थे. शर्मा अंकल और माया आंटी के बीच भी कुछ मधुर रिश्ते पनप चुके थे. वह दोनों भी हमेशा खुश दिखाई पड़ते मैं और छाया दोनों एक ही कमरे में रहते थे. हमारा जीवन पति-पत्नी की भांति हो चला था. पर छाया ने अपनी कामुकता और विविधताओं से हमारे प्रेम संबंधों को रस से सराबोर रखा था.
पर हमारी यह खुशियां ज्यादा दिनों तक नहीं चल पाई. हमारा घर जिस सोसाइटी में था उस सोसाइटी में कई सारे टावर थे. यह बेंगलूर की एक प्रतिष्ठित सोसाइटी इसमें कुल पैतालीस सौ फ्लैट थे. यह सोसायटी एक छोटे शहर जैसी विकसित हो गयी थी. इस नए घर में आए हमें नौ महीने बीत चुके थे. एक दिन सोसाइटी के शॉपिंग मॉल में माया आंटी की मुलाकात मंजुला चाची से हो गइ. दोनों एक दूसरे को देख कर अत्यंत खुश हुयीं.
जब कोई अपना पूर्व परिचित किसी बड़े शहर में मिल जाता है तो उसे देख कर मन प्रसन्न हो उठता है.
माया आंटी उनसे घुल मिल कर बात करने लगी और बातों ही बातों में उन्होंने हमारे घर के बारे में उन्हें बता दिया. उन्होंने हमारे घर की बदली हुई परिस्थितियों को नजरअंदाज कर मंजुला चाची को घर बुला लिया.
मंजुला चाची यहां हमारे गांव के मुखिया मनोहर चाचा के लड़की की सगाई में आई थी. लड़के वालों ने भी इसी सोसाइटी में फ्लैट ले रखे थे. इस सोसाइटी में शादी विवाह के लिए उत्तम व्यवस्था थी. लड़के वाले बेंगलुरु के ही थे. उन्होंने ज़िद की थी कि शादी बेंगलुरु से ही करें. मेरे गांव के कई लोग इस सगाई में सम्मिलित होने बेंगलुरु आए हुए थे.
मनोहर चाचा ने हम लोगों को भी कार्ड भेजा था पर हम अपना घर बदल चुके थे इसलिए उनका निमंत्रण हम तक नहीं पहुंच पाया था.
मैं पिछले वर्ष गांव गया था और सब से मुलाकात कर वापस आया था गांव से थोड़ा बहुत संबंध बना कर रखना आवश्यक था क्योंकि वहां पर हमारी जमीन जायदाद थी. मनोहर चाचा मेरे स्वर्गीय पिता जी के पारिवारिक मित्र थे.
घर आने के बाद माया आंटी ने मुझे मंजुला चाची के बारे में बताया. माया आंटी यह बात भूल चुकी थी की हमारे घर में रिश्ते नए सिरे से परिभाषित हो गए थे. यह बात मंजुला चाची और किसी अन्य गांव वालों को पता नहीं थी. मंजुला चाची का अप्रत्याशित आगमन यदि हमारे घर में होता तो मेरे और छाया के संबंध शक के दायरे में आ जाते. हम उनकी नजरों में अभी भी भाई बहन ही थे चाहे हमारे संबंध
अच्छे हो या खराब. माया आंटी को जब यह बात समझ में आई तो वह बहुत उदास हो गइ.
हम लोगों ने आनन-फानन में घर को नए सिरे से व्यवस्थित किया छाया के कपड़े उसके अलग कमरे में शिफ्ट किए गए. संयोग से शर्मा जी कुछ दिनों के लिए बाहर गए हुए थे. इसलिए एक तरफ से हम निश्चिंत थे. घर को व्यवस्थित करने के बाद हम इसी उधेड़बुन में फंसे थे की मंजुला चाची और गांव वालों का यहां बेंगलुरु में आना और खासकर इसी सोसाइटी में आना एक इत्तेफाक था या कुछ बड़ा होने
वाला था.
अगले दिन मंजुला चाची मनोहर चाचा की पत्नी और एक अन्य महिला के साथ हमारे घर पर आ गई. मैं और छाया भी संयोग से घर पर ही थे. हम दोनों ने उनके पैर छुए उन्होंने हमें आशीर्वाद दिया और कहा..
“दोनों भाई बहन हमेशा खुश रहो”
मंजुला चाची मेरी तारीफ के कसीदे पढ़ने लगीं.
“मानस जैसा लड़का भगवान सबको दे पापा के जाने के बाद इसमें पूरे परिवार को संभाल लिया अपनी बहन छाया को पढ़ा लिखा कर इंजीनियर बना दिया. जब माया और सीमा गांव पर आए थे तो यह उन लोगों से बात भी नहीं करता था परंतु समय के साथ इसने अपनी जिम्मेदारी समझीं और इन दोनों को संभाल लिया.”
उनकी बातें सुनकर मैं खुश होऊ या दुखी यह समझ नहीं पा रहा था. जिस रिश्ते को भूल कर ही हम तीनों खुश थे वही रिश्ते पर मंजुला चाची जोर दे रहीं थी. मैं अपने मन में चीख चीख कर यह कह रहा था की छाया मेरी बहन नहीं है. वह माया जी की लड़की है जिसे मैं प्रेम करता हूँ. पर यह बात मेरे मन के अंदर ही चल रही थी. मंजुला चाची की बातों में बाकी दोनों महिलाएं भी साथ दे रही थी.
उन्होंने छाया का भी हालचाल लिया और बोली बेटा तुम तो बहुत सुंदर हो गइ हो.तुम्हारी पढाई पूरी हो जाए तो मैं तुम्हारे लिए एक सुंदर सा लड़का देखूंगी. तुम तो इतनी सुंदर हो की तुम्हारे पीछे लड़कों की लाइन लग जाएगी कहकर वह तीनों मुस्कुराने लगी.
वह सब आपस में खुलकर बातें कर रही थी. मैं वहां से हट कर बाहर आ गया. मैं उनके आगमन से थोड़ा घबराया हुआ था मुझे इस बात का डर था की मेरे और छाया के बीच वर्तमान संबंधों पर कोई आंच ना आ जाए.
मन में जब आशंकाएं जन्म लेती हैं तो उनके घटने की संभावनाएं कुछ न कुछ अवश्य होती है. बिना कारण ही कोई आशंका स्वयं जन्म नहीं लेती.
जितना ही इस बात पर मैं सोचता उतना ही दुखी होता पर कोई रास्ता नहीं सूझ रहा था. इन तीनों के जाने के बाद छाया और मेरे मन में भूचाल मचा हुआ था. माया आंटी उन लोगों को छोड़ने नीचे गई हुई थी वापस आते ही वह भी हमारे साथ बातों में शामिल हो गई. उनका भी ध्यान मंजुला चाची द्वारा बताए गए भाई बहन के संबंधों पर ही था. मैंने
माया आंटी से कहा
“आखिर एक ना एक दिन लोगों को इस बात का पता चलना ही है तो क्यों ना इसकी शुरुआत मंजुला चाची से ही की जाए “
मेरे और छाया के बीच में बने इस नए संबंध के बारे में जानने के बाद उनकी प्रतिक्रिया ही हमारा आगे का मार्ग प्रशस्त करेगी.
Reply
04-11-2022, 01:23 PM,
#25
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाई बहन
[मैं मानस ]
दो दिनों के बाद मनोहर चाचा की लड़की की सगाई का कार्यक्रम था. हम तीनों समय से कार्यक्रम में पहुंच गए. कार्यक्रम शुरू होने में अभी देर थी माया आंटी मंजुला चाची से बात करने के लिए उत्सुक थी. उनकी अधीरता उनके चेहरे पर स्पष्ट दिखाई दे रहे थी. कुछ ही देर में उन्होंने मंजुला चाची को एकांत में पाकर उनसे बात छेड़ दी और कहा
“ मंजुला मुझे तुमसे एक जरूरी बात करनी है”
“ हां बोलिए ना”
“ मानस और छाया के भी संबंध वैसे नहीं है जैसा तुम समझ रही हो”
“ क्या मतलब”
“ वह दोनों एक दूसरे को भाई-बहन नहीं मानते”
“ क्या मतलब यह कैसे हो सकता है”
“ अरे वह दोनों शुरू से ही एक दूसरे से बात नहीं करते थे और एक बार जब बातचीत शुरू हुई तो उन दोनों ने लड़के लड़कियों वाले संबंध बना लिए. मुझे यह कहते हुए शर्म भी आ रही है कि दोनों अभी तक इन संबंधों में लगे हुए हैं. मेरे समझाने के बाद भी वह दोनों एक दूसरे को भाई बहन नहीं मानते. मुझे कुछ समझ में नहीं आ रहा कि मैं क्या करूं”
माया आंटी ने खुद को निर्दोष रखते हुए सारी बातें एक साथ कह दी.
मंजुला चाची समझदार महिला थी उन्होंने कहा..
“ मैं भी समझती हूं की छाया मानस की अपनी बहन तो है नही. और वैसे भी उन दोनों की मुलाकात युवावस्था में हुई है. इस समय लड़का और लड़की में शारीरिक परिवर्तन हो रहे होते हैं जिससे वह दोनों करीब आते हैं . मुझे लगता है छाया इतनी सुंदर थी की मानस उसके करीब आ गया होगा. और दोनों में इस तरह के संबंध बन गए होंगे. पर क्या छाया अब कुंवारी नहीं है?
“नहीं नहीं वह पूरी तरह कुंवारी है”
“तब तो चिंता की कोई बात ही नहीं है. युवावस्था में लड़के लड़कियों के बीच ऐसे संबंध बन ही जाते हैं वैसे भी छाया उसकी सगी बहन तो थी नहीं इसलिए वो दोनों पास आ गये होंगे. तुम इन बातों को दिमाग से निकाल दो वह भी इस बात को समझते होंगे.”
“अरे नहीं वह दोनों तो एक दूसरे से विवाह करना चाहते हैं मुझसे बार-बार इस बात के लिए अनुरोध करते हैं”
“ यह कैसे संभव होगा? तुम यह बात कैसे सोच भी सकती हो. गांव वालों के सामने क्या मुंह दिखाओगी. सब लोग यही कहेंगे की माया ने अपनी बेटी को मानस को फासने के लिए खुला छोड़ रखा होगा. मां-बेटी ने मानस जैसे शरीफ लड़के को अपने जाल में फांस लिया ताकि उनका भविष्य सुरक्षित हो सके. छाया इतनी समझदार लड़की है और काबिल भी, क्या तुम दोनों इस अपमान के साथ जीवन गुजार पाओगी.”

मंजुला आंटी की बातें माया आंटी को निरुत्तर कर गयीं. उन्हें समझ में नहीं आ रहा था कि क्या बोलूं.
मंजुला आंटी फिर बोलीं ..
“ गांव में तुम्हारे परिवार की बड़ी इज्जत है. सभी लोग गर्व से मानस का नाम लेते हैं और कहते हैं कितना अच्छा लड़का है पिता के जाने के बाद अपने परिवार को पूरी तरह संभाल लिया. अपनी बहन छाया को पढ़ाया लिखाया. भगवान ऐसा लड़का सबको दे. तुम इन दोनों के विवाह के बारे में सोच कर अपनी और अपने बच्चों की आने वाली जिंदगी हमेशा के लिए बर्बाद कर दोगी. यह बात अपने दिमाग से बिल्कुल निकाल दो”
इतना कहकर उन्होंने माया आंटी की पीठ पर हाथ रखा और बोला चलो सगाई का कार्यक्रम शुरू हो रहा है.
मेरा मन कार्यक्रम में नहीं लग रहा था. छाया भी कुछ लड़कियों के साथ गुमसुम बैठी थी. कार्यक्रम के बाद हमने गाँव से आए सभी लोगों से मुलाकात की. मनोहर चाचा के पैर छूते समय वह भावुक हो गए और बोले..
“मानस बेटा तुम्हें देख कर बहुत अच्छा लगा. तुमने पापा के जाने के बाद अपनी बहन छाया और इनकी मां को अपना लिया. यह एक बहुत बड़ा कदम है. तुम्हारे इस अच्छे काम की सराहना आस पास के गांवों में भी होती है. सभी लोग अपने बच्चों को तुम से प्रेरणा लेने को बोलते हैं और तुम्हारे जैसा बनने की अपेक्षा रखते हैं. भगवान तुम्हें हमेशा खुश रखे.”
मनोहर चाचा ने यह भी कहा कि “तुम्हें और छाया को साल में एक बार गांव अवश्य आना चाहिए. वहां तुम लोगों की संपत्ति है तुम्हारे पापा ने संपत्ति के कुछ हिस्से छाया के साथ साझा किए हैं. अपनी जमीन को व्यवस्थित और अपने प्रभाव क्षेत्र में रखने के लिए साल में एक दो बार गांव आना उचित होगा. मुझे पता है तुम्हारी नौकरी में व्यस्तता ज्यादा रहती होगी पर दायित्व निर्वहन भी जरूरी है. उन्होंने चलते चलते फिर से आशीर्वाद दिया तुम दोनों भाई बहन हमेशा खुश रहो यही मेरी भगवान से प्रार्थना है.”
कार्यक्रम से वापस आने के बाद मैं और माया आंटी बहुत दुखी थे. माया आंटी के चेहरे पर उदासी यह स्पष्ट कर रही थी कि उन्हें मंजुला चाची का समर्थन नहीं मिला है. सारे गांव वालों द्वारा हम भाई बहन की तारीफों ने और इस सामाजिक ताने बाने ने हमारे मन में चल रहे विचारों पर कुठाराघात किया था.


कुठाराघात
माया आंटी ने मुझे अपने पास बुलाया और सारी बाते बतायीं और बोला..
“ बेटा मानस अब तुम्हें ही छाया को समझाना होगा. तुम दोनों के बीच में चल रहे प्रेम संबंधों को यहीं पर विराम देना होगा. तुम दोनों का विवाह होना असंभव लग रहा है. कोई भी इस बात को स्वीकार करने को राजी नहीं है कि तुम दोनों भाई बहन नहीं हो. बल्कि तुम दोनों को आदर्श भाई बहन की संज्ञा दी जा रही है. गांव में तुम लोगों की इतनी तारीफ होती है यह बात मुझे लगभग हर व्यक्ति ने कही. जब उन्हें यह पता चलेगा की तुम दोनों विवाह कर रहे हो वह इसे बर्दाश्त नहीं कर पाएंगे. और समाज में हमारी बड़ी बेइज्जती होगी. तुम दोनों एक दूसरे को प्रेम करते हो मुझे इस बात से कोई आपत्ति नहीं थी. मैं समझती हूं परंतु विवाह होना यह शायद संभव नहीं हो पाएगा.
तुम छाया को समझा लो अभी तक उसका कौमार्य सुरक्षित है यह एक अच्छी बात है. तुम दोनों ने एक दूसरे के साथ अभी तक जो भी किया है वह उचित है या अनुचित इस बारे में न सोचते हुए इस संबंध को यहीं पर विराम दे दो. कुछ ही महीनों में छाया की पढ़ाई पूरी हो जाएगी. उसके बाद हम लोग उसका विवाह कर देंगे. विवाह के पश्चात वह स्वयं इन सब चीजों को भूल जाएगी.
तुम दोनों के बीच जो प्रेम संबंध बने हैं वह बने रहे. यह आवश्यक नहीं कि उसमें कामुकता ही प्रधान रहे तुम दोनों बिना कामुकता के भी एक दूसरे के प्रति प्रेम भावना रखते हुए आगे का जीवन व्यतीत कर सकते हो. मैं उम्मीद करती हूं तुम दोनों के जीवन साथी भी तुम लोगों की तरह ही खूबसूरत और समझदार होंगे. ताकि तुम दोनों उनके साथ अपनी अपनी इच्छाओं को पूरा कर सको. यही एकमात्र उपाय है”
इतना कहकर माया आंटी उठ गई. इन बातों के दौरान छाया कब हमारे पीछे आ चुकी थी यह मैं नहीं देख पाया था. उसने भी वह सारी बातें सुन ली थी वह पैर पटकती हुई मेरे कमरे में चली गई और बिस्तर पर पेट के बल लेट कर उसके दोनों हांथों से सर पकड़ लिया था. मैं उसे उठाने की चेष्टा करने लगा. उसकी आंखें भीगी हुई थीं
वह मुझसे लिपट कर रोते रोते बोली
“ क्या यह सच में नहीं हो पाएगा”
मैं निरुत्तर था. मैं उसकी पीठ सहलाता रहा और बालों पर उंगलियां फिरता रहा. मेरे पास कुछ कहने को शब्द नहीं थे मैं स्वयं भी रो रहा था.
गांव वालों ने आकर हमें हमारी कल्पना से हमें वापस जमीन पर पटक दिया था.

छाया से वियोग.
अंततः यह सुनिश्चित हो चुका था कि मेरा और छाया का विवाह संभव नहीं है. छाया बहुत दुखी थी, पर वह स्थिति की गंभीरता को समझती थी. माया आंटी ने छाया से उसके सारे कपड़े अपने नए कमरे में लाने के लिए कहा. छाया का नया कमरा माया आंटी के शयन कक्ष के बगल वाल था. छाया जब अपने कपड़े और सामान मेरे कमरे से बाहर ले कर जा रही थी तो मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे मेरे जीवन से सारी खुशियां एक साथ बाहर जा रहीं है. मेरी आँखे भर आयीं थी. इतना मजबूर मैं कभी नहीं था.
छाया को मैंने आज तक कभी अपनी बहन नहीं माना था और न ही भविष्य में कभी मान सकता था पर परिस्थितियां ऐसी बन गई थी कि मैं उसे अपनी प्रेमिका या प्रेयसी नहीं बना सकता था. हमारे सपने खंडित हो चुके थे.
हम दोनों ने कई दिनों तक एक दुसरे से बात नहीं की. जब भी वह मुझसे मिलती अपना सर झुकाए रखती थी. हम क्या बातें करें यह हमें खुद भी नहीं समझ में आता था. घरेलू बातों के लिए माया आंटी ही मेरा ध्यान रखती. मेरे कमरे में चाय खाना या किसी अन्य तरह की सहायता के लिए वही आती. मुझे छाया से यह सब काम बोलने में शर्म आती थी. जब भी मेरे से उसकी नजरें मिलतीं उसकी नजरों में एक अजीब सी उदासी रहती.
मैंने इतनी प्यारी लड़की से जैसे अन्याय कर दिया हो. इसकी आत्मग्लानि मुझे हमेशा रहती. मुझे लगता जैसे मैं उसकी भावनाओं और शरीर के साथ पिछले तीन वर्षों से खेल रहा था. इस आत्मग्लानि ने मेरा भी सुख चैन छीन लिया था.
नियति में जो लिखा होता है उसे आप बदल नहीं सकते. हमारे प्रेम में हम दोनों की साझेदारी बराबरी की थी पर उम्र में बड़ा होने के कारण मैं इस आत्मग्लानि से ज्यादा व्यथित था.
समय सभी घावों को भर देता है इसी उम्मीद के साथ हम अपनी गतिविधियों में व्यस्त होने का प्रयास कर रहे थे. लगभग दो महीने बीत गए थे. घरेलू कार्यों के लिए की गई बातों को दरकिनार कर दें तो मैंने और छाया ने आपस में कभी भी एक दूसरे से देर तक बात नहीं की थी . अब वह मुझे बिल्कुल पराई लगने लगी थी. माया आंटी मेरी केयरटेकर बन चुकी थी. छाया मुझसे दूर ही रहती और पता नहीं क्यों मैं भी उससे बात करने में कतराता था.
मेरे मन की कामुकता जैसे सूख गयी थी.

[शेष समय के साथ। ]

मेरा विवाह हो चूका था. छाया की अपनी भाभी से बहुत बनती थी. हम तीनों घनिष्ठ दोस्त बन गए थे. अंततः छाया का विवाह भी हुआ पर उसके साथ सुहागरात उसके प्यार ने ही मनायी ….. छाया का देखा हुआ स्वप्न भी साकार हुआ. छाया मेरी बहन तब भी नहीं थी और अब भी नहीं है. जिनके लिए हम भाई बहन थे उनके लिए आज भी हैं. माया आंटी ही हमें समझ पायीं थी की हम दोनों एक दुसरे के लिए ही बने थे. …….वह भी कामदेव ओर रति के रूप में …….
Reply
04-11-2022, 01:23 PM,
#26
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग-9

छाया सीमा की गहराती दोस्ती.

कुछ दिनों से मैं बहुत उदास थी. मुझे सीमा दीदी की याद आई. मैंने उन्हें अपने आने की सुचना उनके आफिस में फ़ोन करके दे दी. रविवार को मैं निर्धारित समय पर उनके घर पहुच गयी. वह घर पर ही थी
“ आओ छाया आज मैं बहुत अकेलापन महसूस कर रही थी”
“जाने दीजिए मैं आ गई ना”
हम दोनों अंदर आ गये. मैं उनके लिए बहुत सारी चाकलेट लायी थी. वह बहुत खुस हुईं और मुझे गले से लगा किया. हम दोनों के ही स्तन पूर्ण रूप से उन्नत थे गले लगते ही सबसे पहले उनकी ही मुलाकात हुई. मैं और सीमा दीदी दोनों हँस पड़े. कुछ समय बाद उन्होंने पूछा
“ छाया क्या खाओगी”
“कुछ भी बहुत भूख लगी है” हम दोनों ने झटपट कुछ खाने की सामग्री बनाई और बिस्तर पर बैठ कर खाना खाने लगे. कुछ ही देर में बाते करते करते हमें नींद आने लगी और मैं बिस्तर पर ही लेटने लगी. उन्होंने कहा..
“ अरे अपनी जींस उतार दो मेरा पायजामा पहन लो”
“नहीं दीदी ठीक है”
“अरे क्या ठीक है”
“इतनी चुस्त जींस में क्या तुझे नींद आएगी”
मैं शर्मा रही थी. पर सीमा तुरंत जाकर एक सफेद कलर का पजामा ले आइ और मुझ पर हक जताते हुए बोली “खुद खोलेगी या मैं खोलू.” मैंने उनकी बात मान ली और पैजामा लेकर बाथरूम में जाने लगी. उन्होंने कहा “ यही बदल लो मैं कौन सा तुम्हें खा जाऊंगी”
मुझे फिर भी शर्म आ रही थी.
“अच्छा लो मैं आंखें बंद कर लेती हूँ. और उन्होंने सच में आंखें बंद कर लीं. मैंने अपनी जींस उतार दी और उनका दिया पायजामा पहन लिया. हम लोग फिर से बातें करने लगे. बातों ही बातों में मैंने उनके दोस्त सोमिल के बारे में पूछा वह थोड़ी रुवासीं हो गयीं. उन्होंने बताया
“ गांव से आने के बाद मैं सोमिल के साथ दो वर्षों तक मिलती-जुलती रही पर पिछले दो ढाई सालों से उसका कुछ अता पता नहीं है. मैंने उसे ढूंढने की बहुत कोशिश की पर मैं सफल नहीं हो पाई. उसके माता-पिता अब उस पते पर नहीं रहते. मैं प्रयास कर कर के थक गइ अब उससे मुलाकात होगी भी या नहीं यह मैं नहीं जानती. पर मैं उसे बहुत याद करती हूँ.”
मैंने स्थिति को सामान्य करते हुए हंसते हुए पूछा..
“सीमा दीदी आपका कौमार्य अभी तक बचा है या सोमिल ने ले लिया”
वह मुस्कुरा पड़ी
“तुझे बड़ा मेरे कौमार्य की पड़ी है. तुम खुद इतनी सेक्सी और खूबसूरत हो गई हो किब मुझे लगता है कि तुम्हारी राजकुमारी अब रानी बन चुकी होगी”
मैं उनके इस पुराने संबोधन पर हंस पड़ी. उनके इन्ही संबोधनों ने कुछ समय पहले तक मानस और मेरे संबधों को जीवंत कर रखा था. मैंने एक बार फिर पूछा
“क्या सच मे आपने अभी तक अपना कौमार्य बचा कर रखा है”
वह हंस पड़ी और कहा..
“तुम्हें देखना है”
“ दिखाइए” मेरा कौतूहल चरम पर था. मैंने आज तक अपनी राजकुमारी के अलावा किसी और की वयस्क राजकुमारी नहीं देखी थी. अपनी राजकुमारी को भी मैंने सिर्फ आईने में देखा था. मुझे राजकुमारी की गुफा देखने की बड़ी तीव्र इच्छा थी. मैं देखना चाहती थी की कौमार्य की झिल्ली किस प्रकार दिखाई देती है. मैं अपनी उत्सुकता ना रोक पाइ और सीमा दीदी से कहा...
“क्या मैं आपकी कौमार्य झिल्ली देख सकती हूं” वह हसीं और बोली
“तुम्हारी उत्सुकता आज भी वैसी ही है” और यह कह कर अपने पजामे को ढीला करने लगीं. कुछ ही देर में उनका पजामा जमीन पर पड़ा था. उनकी गोरी और सुडौल जांघे देखकर मुझे इर्ष्या हो रही थी. उनका रंग गेहुआ था पर जांघों के पुष्ट उभार उन्हें एक अलग किस्म की खूबसूरती प्रदान कर रहे थे. उन्होंने काले रंग की पैंटी पहनी हुई थी. मेरे कुछ कहने से पहले ही उन्होंने अपनी पेंटी उतारना शुरू कर दिया कुछ ही देर में वह कमर के नीचे नंगी हो गयीं थीं. उन्होंने बिना मुझसे पूछे बिना मेरी कमर से अपनी दी हुई सफेद पजामी उतारना शुरू कर दी. मैं अब धीरे-धीरे नंगी हो रही थी उन्होंने मेरी लाल पैंटी को भी उतार दिया.
हम दोनों को नग्न होने का कुछ ऐसा विचार आया कि हम दोनों ने बिना बात किए एक दूसरे का टॉप उतारना शुरू कर दिया. मैं आज कई महीनों बाद नंगी हो रही थी मानस से दूरियाँ बढ़ने के बाद यह पहली बार हो रहा था. इतना सब होने के बाद अकेले हम दोनों के ब्रा क्या करते उन्होंने भी हमारा साथ छोड़ दिया अब हम दोनों पूर्णतया नंगे थे. हम दोनों ने एक दूसरे के शरीर को बहुत ध्यान से देखें सीमा दीदी का तो पता नहीं पर मैंने किसी वयस्क लड़की को आज पहली बार नंगा देखा था. और वह भी मेरी सीमा दीदी उनके स्तन अत्यंत खूबसूरत थे. उनका रंग मुझसे जरूर सावला था पर उनके पुष्ट शरीर के आगे मुझे मेरी खूबसूरती कम लगती थी. हूम दोनों के शरीर की परिकल्पना ले लिए आप मुझे “ १९४२ एक लव स्टोरी की मनीषा कोइराला “ ( जैसा मानस मुझे कहते हैं) और आज की जेक्लीन फर्नाडिस से सीमा दीदी की तुलना कर सकते हैं.
सीमा तो मुझे देखकर मंत्रमुग्ध हो गइ थी. मैं इतनी हष्ट पुष्ट तो नहीं थी पर अत्यंत कोमल थी. उन्होंने मुझे आलिंगन में ले लिया और बोली यदि मैं लड़का होती तो तुम्हारे जैसी नवयुवती के दर्शन कर धन्य हो जाती. इतना कहकर उन्होंने मुझे अपने आगोश में ले लिया और मेरी पीठ को सहलाने लगी.

Smart-Select-20201218-101139-Drive हम दोनों के स्तन आपस में टकरा रहे थे जिसका आनंद हम दोनों के चेहरे पर देखा जा सकता था. धीरे धीरे हमारे हाथ एक दूसरे के नितंबों को भी सहलाने लगे. हमारी जांघे एक दूसरे में समा जाने के लिए बेकरार थी. सीमा दीदी मेरे गालों पर लगातार चुम्बनों की बारिश कर रही थी मैंने भी उनका साथ दिया. कुछ ही देर में हम दोनों पूरी तरह उत्तेजित हो गए थे. मैं सीमा दीदी के पैरों के बीच आ गइ उन्होंने अपनी दोनों जांघे फैला दी मेरे सामने उनकी राजकुमारी स्पष्ट दिखाई दे रही थी. राजकुमारी के होंठो पर हुआ प्रेम रस अत्यंत सुंदर लग रहा था. सीमा दीदी ने कहा
“लो देख लो जो तुम्हें देखना है”

मैंने कांपती उंगलियों से उनकी राजकुमारी के होठों को फैलाया. अंदर अद्भुत नजारा था चारों तरफ गुलाबी रंग की चादर फैली हुई थी. अंदर उनकी मांसल राजकुमारी अत्यंत खूबसूरत लग रही थी. मैंने अपनी दोनों उंगलियां राजकुमारी के मुख में डालकर उसे फैलाने की कोशिश की पर मुझे कुछ विशेष दिखाई नहीं दे रहा था. मैंने उसे और फैलाने की कोशिश की ताकि उनकी कौमार्य झिल्ली को देख सकूं पर मैं इसमें सफल न हो सकी. मैंने अपनी उंगलियां और अंदर की. सीमा दीदी चीख पड़ी और बोलीं....
“छाया बस” मैं समझ गई कि मेरी उंगलियां उनकी कौमार्य झिल्ली तक पहुंच चुकी हैं. मैंने एक बार फिर राजकुमारी के मुख को फैलाया मैंने देखा की राजकुमारी का मुख आगे जाकर सकरा हो गया था. शायद यही उनकी कौमार्य झिल्ली थी. राजकुमार को इसके आगे जाने के लिए इस सकरे रास्ते की दीवार को तोड़ना जरूरी था.
सीमा दीदी की राजकुमारी इस छेड़छाड़ से अत्यंत उत्तेजित हो गई थी. मैंने अपनी हथेलियों से उनकी राजकुमारी को सहलाया. कुछ ही देर में उनकी राजकुमारी में कंपन उत्पन्न होने लगे थे. उसके कम्पन और प्रेम रस की धार ने मुझे यह एहसास करा दिया कि वह स्खलित हो चुकी हैं. उन्होंने मुझे अपने आगोश में फिर से ले लिया. कुछ देर शांत रहने के बाद मैंने अपनी जांघे फिर उनकी जांघों में घुसा दी वह समझ गई कि मेरी राजकुमारी भी स्खलित होना चाहती है. उन्होंने मेरे स्तनों को अपने मुंह में ले लिया तथा अपने हाथ मेरी राजकुमारी के ऊपर ले गयीं. वो राजकुमारी को सहलाने लगी थोड़ी ही देर में मैं भी स्खलित हो गई. हम दोनों इसी प्रकार एक दूसरे की बाहों में लिपटे हुए थोड़ी देर के लिए सो गए. उठने के बाद हम दोनों एक दूसरे को देख कर मुस्कुराए और अपने कपडे पहने. सीमा दीदी ने मुझे चाय पिलाई और मैं वापस अपने घर के लिए चल दी.
सीमा दीदी और मेरे बीच बना यह संबंध आने वाले समय में और मधुर होते गए. हम अक्सर एक-दूसरे से मिलते और एक दूसरे की बाहों में वक्त गुजारते सीमा के साथ मैंने कई बार इसी तरह एकांत में समय गुजारा और हर बार सीमा से कुछ नया सीखने को मिलता.

मानस से दूरियां बढने के बाद मैं सीमा के साथ ज्यादा वक्त गुजारती पिछले कुछ महीनों से मानस ने मेरे शरीर को नहीं छुआ था. अब सीमा के साथ ही मेरी काम पिपासा शांत हो रही थी. अभी तक मैंने सीमा को मैंने अपने और मानस के संबंधों के बारे में कुछ भी नहीं बताया था.

छाया वापस दोस्त बनते हुए.
वक्त का पहिया घूमता हुआ एक दिन हमारे लिए खुशी ले आया. मैं घर पर अकेला था छाया कॉलेज से आई वह बहुत खुश थी. उसके चेहरे की चमक उसकी प्रसन्नता की परिचायक थी. मैंने उससे पूछा
“क्या बात है बहुत खुश लग रही हो”
“आज कॉलेज में एक बड़ी कंपनी आई थी उसने प्लेसमेंट के लिए टेस्ट लिया था मैं उस टेस्ट में अव्वल आई हूं. कल हम लोगों का फाइनल इंटरव्यू है” यह कहकर वह बिना कुछ कहे मुझसे आकर लिपट गई. मैंने उसकी पीठ पर थपथपाई और उसे अपने से अलग करते हुए बोला
“मुझे तुम पर गर्व है. तुमने अपनी पढ़ाई के लिए जो मेहनत की है अब उसका परिणाम सामने आ रहा है”
“मुझे कल होने वाले इंटरव्यू के बारे में कुछ बताइए आपने हमेशा मेरा साथ दिया है और मुझे यहां तक ले आए मुझे उम्मीद है कि आप का मार्गदर्शन कल भी मेरा साथ देगा”
वह बहुत खुश थी और एक बार फिर मेरे गले से लिपट गई. पर आज आलिंगन में कहीं भी कामुकता नहीं थी. वह कुछ देर मुझसे यूं ही लिपटी रही फिर अलग होने के बाद उसने कहा
“क्यों ना आज हम लोग आज खाना बाहर खाएं” . मैं उसकी बात कभी नहीं टालता था. मैंने कहा ...
“ ठीक है”
हम माया आंटी के आने का इंतजार करने लगे. काफी दिनों के बाद हमारी शाम अच्छी बीत रही थी. छाया के चेहरे पर दिख रही खुशी से मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे उसने हमारे वियोग से उत्पन्न दुःख पर विजय प्राप्त कर ली हो और आने वाले समय में वह खुशियों के साथ जीना सीख रही हो.

[ मैं छाया ]
अगले दिन मेरा इंटरव्यू था. मैं सबका आशीर्वाद लेकर कॉलेज पहुची. इंटरव्यू समाप्त होने के कुछ ही समय पश्चात सेलेक्ट किए गए प्रत्याशियों की सूची नोटिस बोर्ड पर टांग दी गई. मेरा नाम सबसे ऊपर था. मैं अपना नाम देखकर बहुत खुश हुई. मुझे मानस की याद आई. मैं इस दुनिया में सबसे ज्यादा शायद मानस से ही प्रेम करती थी. मैं जितनी जल्दी हो सके अपने घर जाना चाहती. मेरे सेलेक्ट होने की सबसे ज्यादा खुशी मानस को होती. आखिर आज मैं जो कुछ भी थी मानस की बदौलत थी.
घर पहुंच कर मैंने अपने सेलेक्ट होने की सूचना दी मानस ने मुझे अपनी गोद में उठा लिया वह जब भी खुश होते थे मुझे अपने आगोश में लेकर कर उठा लेते थे और मुझे गोल गोल घुमाते. हमारे पेट चिपके हुए हुए थे और मेरे पैर बाहर निकले हुए . थोड़ी देर घुमाने के बाद उन्होंने मुझे छोड़ा. मुझे हल्का हल्का मुझे चक्कर आ रहा था. मैं बहुत खुश थी. उन्होंने मुझे फिर अपने आगोश में ले लिया और मेरे गालों पर एक चुम्मी दे दी. यह बहुत दिनों बाद हुआ था. हम दोनों घर पर अकेले ही थे मैंने भी प्रतिउत्तर में उनके गालों पर चुंबन दे दिया. एक पल के लिए मैं भूल गइ कि मानस अब मेरे प्रेमी नहीं थे.
पर उद्वेग में हुई क्रिया आपके नियंत्रण में नहीं होती हम स्वभाविक रूप से एक दूसरे को प्रेम करते थे आज इस खुशी के मौके पर एक दूसरे के आलिंगन में लिपटे हुए हम अपनी वर्तमान स्थिति भूल चुके थे.
राजकुमार अपनी राजकुमारी से मिलने के लिए बेताब हो रहा था और इसका तनाव मैंने अपने पेट पर महसूस कर लिया था. मैं उनसे दूर हटी और बोली
“मेरी हर सफलता के पीछे आपका ही योगदान है. आप मेरे गुरु हैं:
वो भी मजाक में बोले
“फिर मेरी गुरु दक्षिणा कहां है”
मैं कुछ बोली नहीं और शरमाते हुए उनके पास चली गयी. जाने मुझे क्या सूझा मैंने राजकुमार को अपनी हथेलियों के बीच ले लिया. मैंने कहा
“अब मैं आपकी मंगेतर या प्रेयसी नहीं हूं पर बहन भी नहीं हूँ. मैं अपने राजकुमार का ख्याल आगे भी रखती रहूंगी यही मेरी गुरु दक्षिणा है” मैं खुश थी.

माँ के आने के बाद हम सब भगवान के मंदिर गए और सबने भगवान से मेरे उज्जवल भविष्य की कामना की. रात्रि में मैं समय मानस के पास गयी और हम दोनों ने कसी दिनों बाद बाद एक दूसरे की प्यास बुझाय. पर आज हमारी कामुकता में एक अजब सी सादगी थी. हम दोनो ने सिर्फ अपने हाँथो से ही एक दुसरे के गुप्तांगों की सहलाया और स्खलित हो गए. हमारे प्रेमरस भी हमारे कपड़ों में लगे रह गए.

[मैं मानस]
विधि का यही विधान है हर दुख की घड़ी के बाद सुख की घड़ी आती है. मुझसे वियोग के बाद उसके चेहरे पर जो कष्ट या दुख आए थे वह धीरे धीरे छट रहे थे. एक नई छाया उभर कर सामने आ रही थी जो पूर्णतयः परिपक्व थी.
Reply
04-11-2022, 01:24 PM,
#27
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग 10

माया जी का पश्चाताप

[मैं माया]
छाया की नौकरी लगने के दुसरे दिन मैं शर्मा जी की बाहों में संभोग के पश्चात नग्न लेटी हुई थी . शर्मा जी ने अपना चरमसुख प्राप्त कर लिया था परंतु मेरा चरमोत्कर्ष कुछ दिनों से नहीं हो रहा था.
शर्मा जी ने पूछा
"माया जी आजकल आप उदास रहती हैं और संभोग के समय भी आप में उत्तेजना कम प्रतीत होती है.”
“मुझे आत्मग्लानि है”
“पर क्यों आपने तो ऐसा कुछ नहीं किया”
“नहीं मुझे इस बात का दुख है कि मैंने छाया को मानस से अलग कर दिया और आपके साथ इस तरह संभोग सुख का आनंद ले रही हूँ. जब यह विचार मेरे मन में आता है तो मेरी उत्तेजना कम हो जाती है.”
“हां यह बात तो है. जब से मानस और छाया अलग हुए हैं मेरे मन में भी दुख है. पिछले कई दिनों से वह दोनों अपने जीवन का अनूठा सुख ले रहे थे. बिना संभोग किये निश्चय ही उन दोनों ने साथ में उन खुबसूरत पलों को जी भर कर दिया होगा.”
“अब मैं क्या करूं मैं समझ में नहीं पा रही हूँ.”
“ऐसी स्थिति में हम क्या कर सकते हैं? तुमने छाया से बात की क्या?”
“क्या बात करूं मैं उससे. जब मानस और उसका विवाह टूट ही गया है तो अब वो मानस के पास क्यों जाएगी? मैं उससे यह तो नहीं कह सकती कि तुम अपनी और मानस की यौन इच्छाओं की पूर्ति वैसे ही करती रहो जैसे करती आई थी.”
“हां यह बात तो सही है. अब वह दोनों भविष्य में जब कभी एक नहीं हो सकते. उनका इस तरह साथ रहना उचित नहीं होगा.” शर्मा जी भी चिंतित थे.
“पता नहीं छाया के मन में क्या चल रहा होगा? उससे पूछ पाने की मेरी हिम्मत नहीं है.”
अगली सुबह मानस के पीठ में खिचाव था. छाया और शर्मा जी बाहर गए हुए थे. मैं मानस को देखकर द्रवित हो गयी. वह स्नान करने जा रहा था.
मैं अपने पुराने दिनों के बारे में सोचने लगी जब मैंने पहली बार मानस का वीर्य अपने हाथों में से छुआ था. मानस का वीर्य अपने हाथों से छूने के बाद कुछ दिनों तक वह मेरे ख्वाबों का शहजादा था. मैंने अपने मन में उसे लेकर कई प्रकार की कामुक कल्पनाएं अवश्य की थी परंतु उसके साथ इस तरह की बातें करना और उसे उकसाना मुझे पसंद नहीं आ रहा था क्योंकि वह उस समय एक किशोर था .
मैंने कुछ समय इंतजार करने की जरूरत होती पर समय बीतता गया वह छाया को पढ़ाता और दोनों साथ रहते मुझे उसके साथ कामुक होने में असहजता महसूस होती पर एकांत में मैंने हस्तमैथुन के लिए उसका सहारा अवश्य लिया था.
बेंगलुरु आने के बाद मैंने यह महसूस किया उसकी और छाया की दोस्ती हो चली थी. मुझे यह तो नहीं पता था कि दोनों अन्तरग कार्यों में लिप्त थे पर अपनी बेटी के साथ घूम रहे नवयुवक के से मैं इस तरह अन्तरंग सम्बन्ध नहीं रखना चाहती थी. अततः मैंने मानस को लेकर पनपती कामुकता का परित्याग कर दिया.
छाया और मानस को एक साथ नग्न देखने के बाद एक बार फिर मुझमे कामुकता ने जन्म ले लिया. मानस का नग्न और मांसल शरीर और बेहद खुबसूरत लिंग देखने के बाद मेरी योनि अक्सर गीली रहती और मैं अनजाने पुरुष के साथ संभोग के लिए लालायित रहती.
शर्मा जी से मुलाकात के पश्चात ही मेरी तृप्ति हुयी थी.
छाया की नौकरी लग जाने के पश्चात मेरा मन ख़ुशियों से भर गया था . मैंने और मेरी छाया ने जीवन की ढेर सारी ख़ुशियाँ पा लीं थीं। हम मानस के साथ खुश तो कई वर्षों से थे पर अब मेरी बेटी के नौकरी पाने के बाद मेरे मन में गजब का उत्साह था। इन सभी खुशियों के पीछे सिर्फ एक ही इंसान था मानस।
पिछले दो-तीन महीनों से छाया और मानस की नजदीकियां खत्म हो गयी थी. छाया अब अपने कमरे में रहती वह मानस के कमरे में नहीं जाती थी मुझे यह बात जानकर दुख होता कि जिस मानस ने छाया के साथ न जाने कितनी रातें नग्न होकर गुजारी होंगी उसे छाया के बिना कैसा महसूस होता होगा। मैंने उन दोनों को कामदेव और रति के रूप में एक दूसरे की बाहों में नग्न देखा था मुझे वह दृश्य कभी नहीं भूलता। छाया जैसी सुकुमारी और कोमलांगी के साथ नग्न हो कर कई रातें के बिताने के पश्चात अचानक मानस को जिस विरह का सामना करना पड़ता होगा यह मैं समझ सकती थी. मैंने अपने जीवन में वियोग का इतना दंश झेला था कि मुझे इन दो-तीन महीनों में ही मानस पर दया और करुणा आ रही थी।
मैं बाथरूम में नहाते समय एक बार फिर मानस के बारे में सोचने लगी। मैंने उसके एकांत को मैंने आनंद में बदलने की सोची यह कैसे होगा मैं नहीं जानती थी पर मैं उसके लिए कुछ ना कुछ करना चाहती थी। मेरी उम्र उससे इतनी भी ज्यादा नहीं थी की उसने कभी मेरे बारे में कुछ गलत ना सोचा हो।
इतना तो मैं दृढ़ प्रतिज्ञ थी कि मैं उसके साथ संभोग नहीं कर सकती थी परंतु मैंने अपने मन में कुछ सोच रखा था और आज मैं उसे अमल में लाना चाहती थी। नहाने के पश्चात मैंने अपनी सबसे सुंदर नाइटी पहनी जिसमें मेरा शरीर तो पूरा ढका हुआ था परंतु शरीर के उभार स्पष्ट दिखाई पड़ रहे थे।
बेंगलुरु आने के बाद मेरे रंग और चहरे पर निखार भी आ चुका था। यह सब मानस की ही देन थी और आज मैं इस सुंदरता का कुछ अंश उसे देना चाहती थी। मैं पूरी तरह तैयार होकर हॉल में आ गयी। मैंने एक कटोरी में तेल गर्म किया और मानस के कमरे की तरफ चल पड़ी।

[ मैं मानस]
बाथरूम से नहाकर निकलने के बाद मुझे अपनी पीठ का दर्द बढ़ता हुआ लगा मैंने मुश्किल से अपने शरीर को पोछा और बिस्तर पर आकर तोलिया पहने हुए ही लेट गया। मैं पेट के बल लेटा हुआ था । माया आंटी कब अंदर आई मैं देख नहीं पाया। मेरे बिल्कुल पास आने के बाद उन्होंने मेरी नंगी पीठ को छुआ और बोला

Smart-Select-20201217-192416-Chrome
“मानस कहां पर दर्द है।”
मैं उनकी तरफ मुड़ा और इससे पहले मैं कुछ बोल पाता मेरा ध्यान उनकी नाइटी पर चला गया। यह नाइटी उनके ऊपर खूब खिल रही थी। मुझे ऐसा प्रतीत हुआ जैसे माया जीअपनी उम्र से आंख मिचोली कर युवा हो गयीं थीं।
मेरा ध्यान कई दिनों बाद उनके स्तनों पर चला गया उनके स्तन उभरे हुए थे उनका आकार निश्चय ही छाया से बड़ा था। ( मेरे पास तुलना करने के लिए सिर्फ छाया ही थी सीमा से उनकी तुलना बेमानी थी मैंने उसे कई वर्ष पहले देखा था) उन्हें इस तरह देखकर मैं कुछ देर निशब्द रहा फिर मैंने अपनी पीठ पर हाथ लगाकर वह जगह दिखाई जहां दर्द हो रहा था.
उन्होंने अपने हाथों में तेल लगा कर उस जगह पर हल्की मालिश शुरू कर दी मुझे अच्छा लगा मैंने अपना सर वापस तकिये पर रख दिया और उनके कोमल हाथों के स्पर्श को अपनी पीठ पर महसूस करने लगा. उनका स्पर्श मेरे शरीर पर इस तरह शायद पहली बार हो रहा था. उनके हाथों की कोमलता छाया जैसी तो नहीं थी पर शायद उस से कम भी नहीं थी. उनके हाथ मेरी पूरी पीठ पर घूम रहे थे मैं इस अद्भुत आनंद में खोया हुआ था. अभी तक मुझे किसी उत्तेजना का एहसास नहीं हुआ था मैं अपनी पीठ दर्द में मिल रहे आराम से ही खुश था पर मैं मन ही मन माया आंटी के बारे में सोच जरूर रहा था कि आज वह इस तरह कैसे मेरे कमरे में आ गयीं. मैंने उनके हाथ अपनी कमर पर महसूस किया उनकी उंगलियां तोलिए के अंदर जाकर मेरे कमर के निचले भाग को मसाज दे रही थी. मैंने उनके हाथों को नहीं रोका कुछ समय पश्चात वह मेरे पैरों में भी तेल लगाने लगीं. उनमें यह कला अद्भुत थी उनकी उंगलियों का दबाव पैरों पर हर जगह पड़ता और मैं आनंद में खोया चला जा रहा था. उनके हाथ जब मेरी जाँघों की तरफ बढ़ते तब मुझे थोड़ा अजीब एहसास होता. मेरे राजकुमार ने अब मुझ से बगावत करना शुरू कर दिया था. वह छाया का गुलाम था पर शायद इन दो-तीन महीनों के एकांतवास से वह दुखी हो गया था. आज उसके आस पास नारी के कोमल हाथों की ठंडी बयार मिल रही थी इसीलिए वह उत्तेजित हो रहा था.
मुझे पेट के बल लेट होने की वजह से उसे व्यवस्थित करना अनिवार्य था अन्यथा दर्द बढ़ता ही जा रहा था मैंने अपना हाथ नीचे ले जाकर उसे व्यवस्थित करने की कोशिश की. शायद माया आंटी में मेरी इस हरकत को देख लिया था उन्होंने कुछ कहा तो नहीं पर उनके हाथ मेरी जांघों पर और अंदर तक पहुंच गए थे. कुछ ही देर में उन्होंने अपने हाथों से मुझे पीठ के बल आने के लिए इशारा किया.
मैं शर्मा रहा था पर मैं पीठ के बल आ गया. मुझे माया आंटी को इस तरह मुझे मालिश करते हुए देखने में शर्म आ रही थी. परंतु मैं राजकुमार की उत्तेजना के अधीन था. मैंने अपनी आंखें बंद कर लीं और सब कुछ नियति पर छोड़ दिया.
बंद आंखों में कल्पना को नई ऊंचाइयां मिलती हैं. मैंने आंखें बंद कर माया आंटी से नजरे चुराई थी पर आंखें बंद करते ही माया आंटी का चेहरा और कामुक शर्रीर मेरी आंखों के सामने आ गया. बंद आंखों से आज मैंने माया आंटी का नग्न शरीर देख डाला. नाइटी का आवरण मेरी कल्पना ने नोच कर फेंक दिया था.

माया आंटी के हाथ मेरे पैरों पर फिसल रहे थे और मेरी नजरें मेरी कल्पना में उनके शरीर पर एकतक लगी हुई थी. मैं अपनी निगाहों से अपने विचारों में उन्हें पैरों से लेकर सिर तक नग्न कर रहा था और वह अपने हाथों से मेरे पैरों की मालिश.
अब वह मेरे पेट और सीने पर तेल लगा रहीं थीं. मैं उनके सामने साक्षात था और वह मेरी कल्पना में थी. अचानक मुझे अपना तोलिया हटा हुआ महसूस हुआ यह अकस्मात हुआ था उसे खोलने की प्रक्रिया में माया आंटी का कोई योगदान था यह मैं नहीं जानता पर मेरा तनाव से भरा हुआ लिंग निश्चय ही माया आंटी की दृष्टि में आ गया होगा. मेरी आंखें अभी भी बंद थी पर सांस तेजी से चल रही थी. आगे क्या होने वाला था मैं खुद नहीं जानता. मुझे नेयाति पर भरोसा था. माया जी के हाथ मेरी जांघों के ऊपर मेरी कमर तक आ रहे थे पर बेचारा राजकुमार अभी किसी भी स्पर्श से वंचित था.
वह सिर्फ पूर्वानुमान में ही अपनी उत्तेजना कायम किए हुए तन कर खड़ा था. शायद कभी कोई उसका भी ख्याल रखेगा पर माया जी एक सुरक्षित दूरी बनाते हुए मेरी कमर और जाँघों के आसपास अपना हाथ घुमा रहीं थीं. मैं स्वयं उत्तेजना से पागल हो रहा था मैं चाहता था कि कब मेरा राजकुमार उनके हाथों में खेले पर मुझे सिर्फ और सिर्फ इंतजार करना था. अचानक मैंने माया आंटी को अपने दोनों पैरों पर बैठता हुआ महसूस किया उन्होंने मेरे दोनों पैरों को आपस में सटा दिया था और स्वयं मेरे घुटनों के थोडा उपर मेरी जाँघों पर पर बैठ गई थी. उन्होंने अपना सारा वजन अपने घुटनों पर ही रखा था जो मेरे दोनों तरफ बिस्तर पर थे.
मेरे पैर उनकी नंगी जांघों से टकराते ही मुझे ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसे बैठते समय उनकी नाइटी स्वतः ही ऊपर उठ गई थी. उनकी नग्न जाँघों का स्पर्श अपनी जांघों से स्पर्श होता महसूस कर मेरा राजकुमार और तन गया.
मैंने अपनी आंखें अभी भी बंद की हुई थी मैंने माया आंटी को पिछले कई वर्षों में उन्हें कामुक निगाहों से नहीं देखा था. वह एक खूबसूरत महिला थी और मेरी होने वाली सास थीं. उनके हाथ मेरी जांघों पर से होते हुए मेरे पेट और छाती तक आ रहे थे. जब वह आगे की तरफ आती तो कई बार उनका पेट मेरे राजकुमार से टकराता उसकी उत्तेजना लगातार बढ़ रही थी. माया आंटी ने अपनी नाइटी उतारी थी या नहीं अब तो मैं नहीं जानता परंतु उनकी जांघे मेरे पैरों से छूती हुए एक कोमल और कामुक एहसास जरूर दे रही थी.
कुछ ही देर में मैंने उनके नग्न दिन नितंबों को अपने पैरों पर महसूस किया यह अद्भुत एहसास था मुझे ऐसा लगा जैसे वह पूरी तरह नग्न हो गई थी. मैं अपनी आंखें बंद किए हुए इस सुख को अनुभव कर रहा था अचानक वह अपनी कमर और पीछे की तरफ ले गई उनके कोमल नितंब मुझे अपने पैर के पंजों से छूते हुए महसूस हुए. वह मेरे पैरों की मालिश करते हुए और मेरे पेट तक आप आ रही थी इसके ऊपर आना संभव नहीं हो पा रहा था जब वह मेरे पेट तक पहुचातीं उनका मुख मंडल मेरे राजकुमार के समीप होता उनकी सांसों की गर्मी मेरे राजकुमार को कभी-कभी महसूस हो रही थी. राजकुमार का इंतज़ार ख़त्म हो रहा था.

[ मैं माया ]
मैं उसके पैरों पर तेल लगाते हुए उसकी नाभि तक जा रही थी बीच में उसका उत्तेजित लिंग मुझे आमंत्रण दे रहा था मैंने अपने हाथों से उसे पहली बार छुआ. राजकुमार में अचानक हलचल हुई मैंने मानस का चेहरा देखा उसने अभी भी अपनी आंखें बंद की हुई थी परंतु मेरे स्पर्श का उस पर असर हुआ था. उसके चेहरे पर सुखद अनुभूति हुई थी. अब मैं उसकी जांघों से कमर तक जाते समय अपने हाथ से उसके राजकुमार को स्पर्श कर रही थी और राजकुमार उछल रहा था. मानस का लिंग वास्तव में आकर्षक था. मेरी छाया उसे अकेला छोड़ गयी थी यह सोचकर मुझे मानस के लिंग को देखकर प्यार आ रहा था. मुझसे रहा नहीं गया और मैंने नीचे झुक कर उस लिंग को चूम लिया. मेरे होठों का स्पर्श पाकर मानस की आंखें कुछ देर के लिए खुलीं पर उसने आखें बंद कर लीं. वह समझदार था. शायद वह समझता था की उसे शर्म के परदे को कायम रखते हुए मैं उसे ज्यादा सिख दे सकती थी.

मेरे मन में एक पल के लिए आया कि मैं मानस के लिंग को पूरी तरह अपने मुंह में ले लूं. पर मैं रुक गई मैंने अभी उसे अपने हाथों में लेकर और उत्तेजित करने के लिए सोचा. मेरे दिमाग में बार-बार वही बातें आ रही थी. यह वाही लिंग है जिसने मेरी बेटी छाया की कोमल योनी के साथ पिछले कई वर्षों तक संसर्ग किया है. मैंने इस सुंदर लिंग से अपनी प्यारी बेटी की छाया को जुदा कर दिया था. यह छाया के लिए सर्वाधिक प्रिय रहा होगा ऐसा मेरा अनुमान था. मैंने लिंग के अग्रभाग को अपने हथेलियों से से सहलाया. मुझे अपने नितंबों पर मानस के पैरों का दबाव महसूस हुआ. ऐसा प्रतीत हो रहा था जैसा मानस अपनी जांघों को ऊपर उठा रहा था. मैंने अपने दोनों हाथों से उसके लिंग को सहलाना शुरू कर दिया. मेरा बाया हाथ लिंग के निचले हिस्से पर अपनी पकड़ बनाए हुआ था तथा अंगूठे उसके अंडकोष को भी सहला रहे थे. मैं दाहिने हाथ से उसके लिंग को नीचे से ऊपर तक सहला रही थी. शिश्नाग्र तक पहुंचते-पहुंचते मैं अपनी हथेलियों का दबाव बढ़ा देती और मानस के चेहरे पर उत्तेजना और बढ़ जाती. शिश्नाग्र एक दम लाल हो गया था. गोरे रंग के राज्कुमार का लाल मुह देख कर मुझे एसा लगा हैसे कोई छोटा बच्चा गुस्से से लाल हो गया हो. मुझे एक बार फिर उसे चुमने की इच्छा हुई.
मैंने अपने होठों को मानस के लिंग पर जैसे ही रखा वीर धारा फूट पड़ी. मैं इस अप्रत्याशित वीर्य स्खलन से अव्यवस्थित हो गई वीर्य की पहली धार मेरे होंठो और चेहरे पर गिरी. मैंने अपना चेहरा हटाया परंतु तब तक मानस का हाथ उसके लिंग पर आ चुका था.

Smart-Select-20201217-140846-Chrome मैंने अपने हाथ से उसका लिंक पकड़े रखा था हमारी उंगलिया मिल गयीं. वीर्य उसके लिंग से लगातार बाहर हो रहा था और वह मानस के शरीर पर तथा मेरे शरीर पर गिर रहा था. हम दोनों वीर्य को अपने शरीर पर ही गिराना चाह रहे थे. मानस शर्म वश एसा कर रहा था और मैं उत्तेजनावश. मानस ने अब तक अपनी आंखें खोल लीं थी. मुझे अपने वीर्य में भीगा हुआ देखकर वाह मन ही मन प्रसन्न हो रहा था परंतु अब मैंने उसके चेहरे पर से नजर हटा ली थी.
मैं बिस्तर से उतर कर नीचे आ गई मेरी नाइटी ने स्वतः ही नीचे आकर मेरे नग्न जाँघों और को ढक लिया. मैं तेल का कटोरा अपने हाथों में लिये कमरे से बाहर आ गई. मेरे हाथ में मानस के वीर्य से सने हुए थे. यह वही वीर्य था जो आज से कुछ महीने पहले तक मेरी प्यारी छाया को भिगोया करता था. मैंने मानस के वीर्य से सने हाथों को एक बार फिर चूम लिया.
तीन-चार दिनों बाद छाया और मानस को एक साथ हंसते और साथ साथ बाहर घूमते हुए देख कर मेरे मन में एक बार लगा की फिर दोनों दोनों प्रेमी पास आ गए. अब मुझे मानस का हस्तमैथुन करने का थोड़ा अफसोस हो रहा था पर उस दिन अत्यधिक खुशी और कृतज्ञता में मैंने वह कदम उठा लिया था.
मुझे इस बात से खुशी थी की वो दोनों ही समझदार और जिम्मेदार थे. इसके अलावा वह दोनों एक साथ क्या करते होंगे यह मैं जानती तो जरूर थी पर उस बारे में मैंने सोचना बंद कर दिया. वह दोनों एक दूसरे के लिए ही बने थे मैंने भी उनकी खुशी में अपनी खुशी ढूंढ ली थी. अब मैं बिना किसी आत्मग्लानि के साथ शर्मा जी की बाहों में आनंद लेने देखने लगी.
Reply
04-11-2022, 02:15 PM,
#28
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग 11
छाया की भाभी सीमा
[ मैं छाया]
सामाजिक मजबूरियों की वजह से मां ने मेरे और मानस के रिश्ते को अब एक नया रूप दे दिया था. अब हम प्रेमी प्रेमिका नहीं रहे थे. हम दोनों इस बात से बहुत दुखी थे. पर हमारे बीच भाई बहन जैसे कोई संबंध नहीं बन सकते थे. हम दोनों ने इतनी राते एक साथ नग्न गुजारी थी की इस बात की परिकल्पना भी बेमानी थी.
पर परिस्थितियां बदल चुकी थी कुछ ही दिनों में मैंने और मानस में बदली हुई परिस्थितियों को स्वीकार कर लिया था. मैं घर में और सबके सामने मानस को “मानस भैया” ही कहती आखिर में यही सच हो रहा था पर मुझे अच्छा नहीं लगता था. अकेले में हमारी बात लगभग नहीं होती थी. यही मेरे लिए अच्छा था. जिस दिन मेरी नौकरी लगी थी उस दिन हमने एक दुसरे को कई दिनों बाद स्खलित भी कर दिया था. अब हम फिर से बातें करने लगे थे. मेरे मन में वो अब मेरे दोस्त बन चुके थे.
मेरी मां भी अब सामान्य हो गई थी. मैं और मेरी मां मानस के लिए एक उपयुक्त लड़की की तलाश करने लगे. मेरे मन में अचानक सीमा का ख्याल आया मैंने बिना किसी को बताए सीमा से बात करने की सोची.
अगले दिन में सीमा के घर पर थी. मैंने सीमा दीदी के लिए सुंदर फूलों का गुलदस्ता लिया और खूब सज धज कर उनके घर पहुंची. उन्होंने मुझे देखते ही बोला आ गई मेरी रानी और मुझे बाहों में भर लिया. कुछ ही देर में हम दोनों तरह- तरह की बातें करते हुए बिस्तर पर आ गए. हमें एक दूसरे के साथ नग्न होकर प्रेम करना बहुत अच्छा लगता था. हमें लगता था जैसे हम दोनों एक साथ अपना जीवन व्यतीत कर सकते हैं. सीमा दीदी के स्खलित होने के पश्चात मैंने उन्हें बाहों में भरते हुए बोला.
“आजकल मानस भैया बहुत दुखी रहते हैं”
“ क्यों क्या हो गया”
“अरे उनका अपनी गर्लफ्रेंड से ब्रेकअप हो गया है पिछले दो-तीन महीनों में वह एकदम गुमसुम हो गए हैं “
सीमा दीदी ने कहा.
“मानस तो बहुत ही अच्छा है मैंने तो उसे चार-पांच साल पहले देखा था तब से अब तो वह काफी बदल गया होगा”
मैं समझ चुकी थी की सीमा के मन में अभी भी कहीं न कहीं मानस के लिए कोई जगह खाली थी.
मैंने सीमा दीदी को अपने घर पर बुला लिया यह मानस के लिए मेरी तरफ से एक उपहार जैसा था. शाम को सीमा दीदी हमारे घर पर आ गयीं. वह मानस भैया के घर आने से पहले पहुंच चुकी थी. शाम को ऑफिस से आने के बाद रोज की तरह मानस भैया अपने कमरे में चले गए. अक्सर उनके कमरे में चाय लेकर मां जाया करती थी पर आज सीमा चाय लेकर उनके कमरे में गई. सीमा बहुत सुंदर लग रही थी .


[मैं मानस]
“आप कौन”
“ अरे चाय तो ले लीजिए.बताती हूं.”
“मैं सच में आपको नहीं पहचान पा रहा हूं”
“हां हम बहुत पहले मिले थे और आपने मुझे पढ़ाया भी है.”
“सीमा”
“हां मैं ही हूं”
“ आओ बैठो कितने दिनों बाद तुम्हें देख रहा हूं इसलिए नहीं पहचान पाया और तुम भी तो काफी बदल गई हो”
सीमा ने चुटकी ली
“क्या बदल गया है”
मैं निरुत्तर था.
मैंने सोमिल के बारे में पूछा
“ मेरा सोमिल से पिछले दो-तीन सालों से मिलना नहीं हो पा रहा है वह पता नहीं कहां होगा. मैंने उसे ढूंढने की बहुत कोशिश की पर सफल नहीं हुई. हो सकता है वह भी मुझे ढूंढ रहा हो पर शायद अब उससे मिलना न हो पाए.”
कुछ देर में छाया भी वहां आ गयी और बोली आज यहीं रुक जाओ हम सब रात में खूब सारी बातें करेंगे.

[मैं छाया]
सीमा दीदी अब मेरे कमरे में आ गई थी. मैंने उन्हें अपने कपड़े दे दिए जिसे पहन कर वह आराम कर सके मैंने उन्हें अपनी वही नाइटी दे दी जिसे पहनकर मैंने पहली बार इस घर में मानस का मुखमैथुन किया था. वह इसे बहुत पसंद करते थे . जब भी मेरा मन कामुकता से भरता मैं वह नाइटी पहन लेती मानस उसे देखते ही मेरे मन की बात समझ जाते और कुछ ही घंटों में हम बिस्तर पर एक दूसरे की काम पिपासा बुझा रहे होते. अब परिस्थितियां बदल गई थी. आज जब सीमा दीदी वही नाइटी पहन कर डाइनिंग टेबल पर खाना खा रही थी तो मैं मानस भैया का चेहरा ध्यान से देख रही थी. वह टकटकी लगाकर सीमा को देख रहे थे. मैं समझ रही थी. आज फिर उनमे कामुकता भरी हुई थी . पर आज उनका साथ देने के लिए कोई नहीं था कम से कम मैं तो नहीं थी. मुझे उन पर थोडी दया भी आई. खाना खाने के पश्चात हम बालकनी में आ गए थे. बेंगलुरु शहर का सुंदर नजारा मन मोहने वाला था. मानस की स्थिति का आकलन करना इतना कठिन भी नहीं था. मुझे पूरा विश्वास था की राजकुमार आज पूरी तरह तना होगा उसके पास दो- दो राजकुमारियां थी जिनके साथ उसने अठखेलियां की थी. दोनों ही राजकुमारियां अब रानी बनने के लिए तैयार थी और अपने यौवन के चरम पर थी. मैंने सीमा दीदी और मानस को मिलाने के लिए वापस गांव की बातें शुरू कर दीं. मैंने उन्हें छुपन छुपाई खेल की याद दिलाई और बोला
“ रोहन और साहिल को छुपन छुपाई में बहुत आनंद आता था” मानस और सीमा हँस पड़े.
“ आनंद तो आप दोनों को भी आता होगा तभी आप लोग हमेशा खेलने के लिए तैयार रहते थे”
मानस और सीमा मेरी इस छेड़छाड़ पर मुस्कुरा रहे थे. मैंने कहा
“मुझे बहुत नींद आ रही है मैं चली सोने” यह कहकर कुछ समय के लिए वहां से हट ली. जाने से पहले मैंने मानस भैया को अंदर बुलाया और उन्हें बोला
“सीमा को हमारे संबंधों के बारे में कुछ भी नहीं पता और आप भी नहीं बताइएगा. मैंने उसे सिर्फ इतना बताया है कि आपका किसी के साथ प्रेम संबंध था पर उससे आपका ब्रेकअप हो गया है.” मैंने कई दिनों से उनसे हक़ से कोई बात नहीं की थी. मेरी यह हिदायत भरी बातें सुनकर वो बहुत खुश हो गए. और उन्होंने एक बार फिर बिना मुझसे कुछ कहे मुझे अपने आलिंगन में भरकर माथे पर चूम लिया और बोले
“छाया तुम बहुत अच्छी हो” उनके इस आलिंगन के दौरान मैंने उनके लिंग का तनाव महसूस कर लिया था.


[ मैं मानस]
वापस बालकनी में आने पर बातों ही बातों में सीमा ने पूछा
“आप शादी कब कर रहे हैं “
“जब कोई तुम्हारे जैसी अप्सरा मिल जाए” वह हंसने लगी.

हम रात लगभग 2:00 बजे तक बातें करते रहे. मुझे यह एहसास हो रहा था की वो मेरे करीब आना चाह रही है. सोमिल के मिलने की उम्मीद उसके मन में धीरे धीरे काम हो रही थी. छाया भी जगी हुई थी पर हमारे पास नहीं थी. अचानक उसने सीमा के मोबाइल पर मैसेज किया और सीमा ने मुझसे इजाजत ली. सीमा छाया के कमरे में जा चुकी थी और मैं बिस्तर पर अकेला बैठा सीमा को याद कर रहा था.

आज परिस्थितियां कितनी बदली हुई थी. सीक्रेट सुपरस्टार की तरह दिखने वाली सीमा आज एक अप्सरा जैसी सुंदर हो गई थी. छाया और सीमा दोनों ऐसी नवयुवतियां थी जिनमें खूबसूरती के लिए होड़ लगी थी. दोनों की जवानी अपने उफान पर थी सीमा जहां हष्ट पुष्ट और कसरत करके बनाया हुआ शरीर था वही छाया का शरीर अत्यंत कोमल था पर सुडोल था. दोनों के स्तन और नितंब भरे हुए थे.
उन दोनों का ख्याल करते हुए मेरा हाथ मेरे राजकुमार पर चला गया और उसे सहलाने लगा जितना ही मैं उन दोनों को याद करता उतना ही तनाव बढ़ता जाता मुझे यह नहीं समझ आ रहा था की राजकुमार किसके लिए ज्यादा बेचैन था. मैंने अपने आप को इस दुविधा से दूर करते हुए सिर्फ राजकुमारी पर अपना ध्यान केंद्रित कर दिया. राजकुमारी छाया की हो या सीमा की दोनों का स्वरूप लगभग एक ही था. मेरा राजकुमार यह जानता था राजकुमारी का मुख ध्यान आते ही राजकुमार लावा उगलने के लिए तैयार हो गया .
अगले दिन सीमा वापस जा रही थी. माया आंटी ने जाते समय सीमा के लिए दोपहर का खाना बना कर दे दिया था. वह बहुत खुश थी माया आंटी ने कहा
“सीमा बेटी छुट्टियों में यही आ जाया करो. तुम्हारा मन भी लगेगा और हम लोग भी तुमसे मिल लेंगे”
मैं और छाया सीमा को छोड़ने नीचे तक आए जाते समय मैंने भी सीमा से कहा
“तुम्हारे आने से बहुत अच्छा लगा हम तुम्हारा अगले वीकेंड पर भी इंतजार करेंगे”
वह खुश हो गई चली गई.
मैं और छाया दोनों एक दूसरे को देखते रहे. छाया ने सीमा को वापस लाकर मेरे लिए आगे की राह आसान कर दी थी.
Reply
04-11-2022, 02:15 PM,
#29
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग -12
छाया का मुझे मनाना
छाया ने वापस आते समय ने मुझसे कहा आपने मेरा बहुत ख्याल रखा है हमारे बीच जो फासला बन गया है उसे सिर्फ सीमा ही भर सकती है. सीमा एक अच्छी लड़की है मैं इस बात की गारंटी देती हूं. आप सीमा को स्वीकार कर सकते हैं. पर उसे आपको ही मनाना होगा. मैं छाया की समझदारी पर बहुत खुश था मैंने छाया से कहा
“मैं तुम्हारा गुनहगार हूं मैंने तुम्हारे साथ इतने दिनों तक अंतरंग वक्त बिताया है और हमें इस तरह अलग होना पड़ा यह मुझे अपराध बोध से ग्रसित रखता है”
उसने कहा
“उन अंतरंग पलों का जितना आनंद मैंने लिया है शायद आपने न लिया हो. वह मेरे लिए बहुमूल्य है मुझे उस बात का कोई अफसोस नहीं है. अपने कौमार्य को सुरक्षित रखते हुए यह संबंध मैं अब भी आपसे भी रख सकती हूँ मैं आपकी प्रेयसी न सही दोस्त तो अब भी हूँ.”
घर का दरवाजा आ चुका था और हम दोनों अपने अपने कमरों की तरफ चले गए.


अगले शनिवार को छाया ने सीमा को फोन करके फिर से बुला लिया था. अब हमारे पास दो रातें थी हम तीनों ने बहुत सारा वक्त एक साथ गुजारा था. छाया बीच-बीच में मुझे और सीमा को पास लाने का पूरा प्रयास कराती. हम दोनों का मन भी परिस्थितियों वश एक दुसरे का हो चला था.. धीरे धीरे एक दो मुलाकातों में सीमा ने अपनी रजामंदी दे दी.

छाया अब घर के अभिभावक के रूप में काम कर रही थी. उसने माया आंटी को सारी बातें खुलकर बता दी. माया आंटी ने भी सीमा को सहर्ष स्वीकार कर लिया. वह हमारे घर के लिए सर्वथा उपयुक्त थी. वह छाया की एक बहुत अच्छी सहेली थी और मेरे से पूर्व परिचित भी थी. माया आंटी ने सीमा के माता-पिता से हमारे संबंधों की बात की वह मुझे अच्छे से जानते थे और उन्होंने अपनी रजामंदी तुरंत दे दी.
कुछ ही दिनों में मेरी और सीमा की मंगनी हो गई और 3 महीनों के बाद का शादी का दिन भी निर्धारित हो गया. मेरे और सीमा के शादी के फैसले में छाया का बहुत बड़ा योगदान था। उसने ही हम दोनों का मिलन कराया था. हम दोनों उसके बहुत शुक्रगुजार थे. हम दोनों ने ही उसके साथ एकांत में वक्त बिताया था और अपनी काम पिपासा को उसकी मदद से हर संभव तरीके से बुझाया था. वह हम दोनों को हर तरीके से खुश रखती आई थी पर अब हम एक हो चुके थे और वह अकेली थी.
मंगनी का समारोह समाप्त हो जाने के बाद सभी लोग अपने-अपने घर वापस चले गए सीमा भी अपने परिवार वालों के साथ कुछ दिनों के लिए चंडीगढ़ चली गई.
आयोजन से थका हुआ मैं अपने कमरे में आराम कर रहा था. छाया चाय लेकर मेरे कमरे में आई मैं समझ गया माया आंटी घर पर नहीं हैं. मैंने फिर भी पूछा
“तुम”
उसने कहा
“वह दोनों लोग बाहर गए हैं दो-तीन घंटे में लौटेंगे” मैं उठकर चाय पीने लगा और वह भी मेरा साथ देने लगी उसने दो कप चाय लायी थी. मैंने एक बार फिर से उसे धन्यवाद दिया. वह भी बहुत खुश थी. चाय खत्म होने के बाद उसने मेरी चादर खींची और बोला
“जल्दी से नहा लीजिए मैं नाश्ता लगा रही हूं” चादर के हटते ही मेरा राजकुमार बाहर आ गया. मैं राजकुमार से खेलते खेलते सो गया था और अपनी पजामी को ऊपर करना भूल गया था. छाया मेरे राजकुमार को कई दिनों बाद देख रही थी. उससे बर्दाश्त ना हुआ उसने उसे अपने हाथों में ले लिया और कहा
“तुमने मेरी और मेरी राजकुमारी की बहुत मदद की है” ऐसा कहकर उसे प्यार से सहलाने लगी और मेरी उत्तेजना बढ़ने लगी. मेरे हाथ छाया की तरफ बढ़ने लगे यह सब अपने आप होता चला गया. कुछ ही देर मे छाया मेरी बाहों में थी.
हम दोनों कई महीनो बाद नग्न होकर एक दूसरे को बेतहाशा चूम रहे थे. छाया की राजकुमारी को छूते समय मुझे बालों का एह्साह हुआ. राजकुमारी बालों से ढक गई थी. पिछले कई दिनों से छाया प्रूरी तरह व्यस्त थी. शयद छाया ने अपनी राजकुमारी को सजाया संवारा नहीं था. आखिर वह करती भी किसके लिए. राजकुमारी को बालों में डूबा देख मैं थोड़ा दुखी हो गया. मैंने कहा राजकुमारी का क्या हाल बना रखा है. वह मुस्कुराकर बोली
“राजकुमार के वियोग में उसकी दाढ़ी बढ़ गई कहकर वह हंस पड़ी.” कहते हुए उसने राजकुमार को सहला दिया.
उसकी हंसी पहले जैसी ही मादक थी. मैंने उसकी राजकुमारी देखना चाहा पर वो तैयार नहीं हुई शायद वह बालों की वजह से शर्मा रही थी.
कुछ ही देर में हम वापस एक दूसरे से लिपटे हुए अपने राजकुमार और राजकुमारी को एक दूसरे पर रगड़ रहे थे. हमारे होंठ एक दूसरे में फिर उलझे हुए थे. मैंने छाया के नितंबों को अपनी और खींच रखा था. कई महीनों बाद हम दोनों इस सुख का आनंद ले रहे थे. कुछ ही समय में मेरे राजकुमार ने राजकुमारी के कंपन महसूस कर लिए छाया के मुह से “मानस भैया ...........” की धीमी आवाज कई महीनो बाद आ रही थी.
मैं उसके चेहरे को चूम रहा था . मेरे राजकुमार ने भी वीर्यपात कर दिया। वीर्य हम दोनों के नाभि के आस पास फैल गया छाया अपना शरीर नीचे की तरफ ले गई अपने स्तनों से मेरी नाभि को छूकर वीर्य अपने स्तनों पर लगाया और नीचे झुकते हुए उसने मेरे राजकुमार को अपने होठों से चुंबन किया जिससे वीर्य की कुछ बूंदे उसके होठों पर लग गइ. वह वापस मेरे पास आयी और मेरे होठों पर किस करते हुए बोली
“हमारे बीच ज्यादा कुछ नहीं बदलेगा बस आपको सीमा को बहुत खुश रखना होगा. जब तक वह खुश रहेगी आपको मेरा प्यार मिलता रहेगा. मैं आपको मंगनी में आपको कोई उपहार ना दे पायी थी. उम्मीद करती हूं कि मेरा यह उपहार आपको अच्छा लगा होगा“
छाया की बातें सुनकर मन प्रफुल्लित हो गया. उसने मुझे माफ कर दिया था. मैं उसे खुश करना चाहता था और वह मुझे उसका यह प्रेम आगे भी कायम रहेगा यह मेरे लिए स्वर्गीय सुख की बात थी. मैंने उसे अपने सीने से सगा लिया और उसे जीवन भर खुश रखने के मन ही मन वचनबद्ध हो गया.
मैंने उससे कहा छाया तुम बहुत अच्छी हो. वह मुस्कराई और बोली
“अच्छी दोस्त हूँ.” उसने दोस्त पर विशेष जोर दिया था. मैं भी अब उसे अपना दोस्त मान चुका था.
कमरे से जाते समय भी वह नग्न ही थी. उसने अपने कपडे हाँथ में उठे हुए थे शायद वह नहाने जा रही थी. मैं उसके गोरे और मादक नग्न नितम्बों को हिलाते हुए देख रहा था. राजकुमारी के बढे हुए बाल भी जाँघों के बीच से दिखाई दे रहे थे.


सीमा मेरी मंगेतर
[ मैं छाया ]
कुछ दिनों बाद सीमा वापस बेंगलुरु आ चुकी थी. अब वह मानस की मंगेतर थी. आज से कुछ महीनों पहले तक मैंने मानस की मंगेतर के रूप में मानस के कमरे में कई महीने व्यतीत किए थे. उसकी सुनहरी यादें अभी भी मन को गुदगुदा जाती और मुझे रुला जाती है. पर मैं स्थिति को मन से स्वीकार कर चुकी थी. मुझे पता था मानस मुझसे बहुत प्यार करते है मैं उनकी दोस्त बनकर भी सारा जीवन काट सकती थी. वह मेरे लिए समय समय पर दोस्त, प्रेमी, सखा, भाई, पिता सबकी भूमिका में आते और उसे बखूबी निभाते.
सीमा इस बार भी वीकेंड पर हमारे घर आई. मैंने उसके लिए आज विशेष इंतजाम कर रखा था. मानस को मैरून कलर की नाइटी बहुत पसंद थी. मैंने उनकी पसंद को ध्यान रखते हुए एक ट्रांसपेरेंट नाइटी खरीद ली थी. नाइटी के ऊपर एक गाउन भी था जिसे पहन लेने पर नाइटी की पारदर्शिता खत्म हो जाती थी . शाम को मैं सीमा को लेकर अपने कमरे के बाथरूम में गई और हम दोनों ने एक दूसरे को शावर के नीचे खूब प्यार किया. बाहर आने के बाद मैंने उसे नाइटी पहनाई जिसे देखकर वह बहुत खुश हो गयी.
वह अत्यंत सुंदर लग रही थी. उसने मुझसे कहा
*लगता है तुमने आज रात के लिए विशेष तैयारी कर रखी है. मेरी ननद मेरा इतना ख्याल रखेगी यह मैंने कभी नहीं सोचा था”
ननद शब्द सुनकर मेरे मन में बिजली दौड़ गई. मेरे और मानस के बीच बन चुके संबंधों में इस शब्द की कोई गुंजाइश नहीं थी पर यह सीमा के शब्द थे जो इससे पूरी तरह अनभिज्ञ थी. मैंने उसे सजाया. पैर्रों में आलता लगाया, पायल पहनाई बाल सवारे. मानस को सजे हुए पैर अच्छे लगते थे.
हम सब खाने की टेबल पर आ चुके थे. टेबल पर दो अत्यंत खूबसूरत नवयुवतियों को नाइटी में देखकर मानस के चेहरे पर खुशी स्पष्ट दिखाई दे रही थी. खाना खाने के पश्चात हम सब हमेशा की तरह मानस की बालकनी में चले गए. कुछ देर बात करने के बाद मैंने कहा
"अच्छा सीमा मैं चलती हूं तुम्हारे कपड़े मानस भैया के कमरे मैं ही रखे हैं तुम रात में यहीं सो जाना." इतना कहकर मैं मानस के कमरे से वापस आने लगी सीमा भी मुझे छोड़ने दरवाजे तक आई और बार-बार बोल रही थी
“यह ठीक नहीं रहेगा माया आंटी भी है कितना खराब लगेगा” मैंने उसकी राजकुमारी को ऊपर से छुआ और बोली
“एक बार इसको राजकुमार से मिला तो लो. पता नहीं इतने दिनों में राजकुमार का क्या हुआ होगा? आखिर विवाह तो राजकुमारी का भी होना है। उसे अपने होने वाले राजकुमार को देखने का पूरा हक है” मैं हंसते हुए वापस आ गइ सीमा भी हंसते हुए दरवाजा बंद कर रहे थी.
Reply

04-11-2022, 02:15 PM,
#30
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
वर्षो बाद सीमा के साथ.

[मैं मानस ]
बालकनी से उठकर मैं भी कमरे में आ गया था. सीमा दरवाजे की चिटकिनी लगाकर मुड़ी ही थी कि मुझसे नजरें मिलते ही उसने अपनी नजरें झुका ली. उसे चिटकिनी लगाते देखकर मैंने हमारे बीच होने वाले घटनाक्रम को अंदाज़ कर लिया था. वह नजरें झुकाए खड़ी थी. मैं धीरे-धीरे उसके पास गया और उसका हाथ पकड़ लिया. इससे पहले कि वह कुछ बोल पाती मैंने उसके माथे पर चुंबन जड़ दिया. कुछ ही देर में हम दोनों एक दूसरे के आलिंगन में थे.

[मैं सीमा ]
आज लगभग 4-5 वर्ष बाद मैं मानस के साथ थी. हम दोनों ही काफी बदल गए थे. सोमिल से मेरी आखिरी मुलाकात आज से लगभग २-३ वर्ष पहले हुई थी. मैंने उसके बाद किसी और पुरुष से कोई संबंध नहीं रखा था. सोमिल की यादें मेरे जेहन में अभी भी ताजा थी. धीरे-धीरे हम दोनों एक दूसरे से प्यार कर बैठे थे. पर शायद नियति को यह मंजूर नहीं था. वह अचानक मेरी जिंदगी से दूर चला गया था और मैं चाह कर भी उसको नहीं ढूंढ पाई. मुझे नहीं पता कि वह मुझे ढूंढ रहा था या नहीं पर इस दूरी को खत्म करने का कोई उपाय नहीं बचा था . मेरे माता-पिता का दबाव मुझ पर लगातार बढ़ रहा था. उनकी इच्छा थी कि मैं शादी कर लूं. हालांकि मेरी उम्र अभी बाईस वर्ष की ही थी पर माता-पिता की नजरों में बेटियां शायद जल्दी बड़ी हो जाती है. वह मेरी शादी के लिए बहुत ही उत्सुक थे. उन्हें सोमिल से कोई दिक्कत नहीं थी परंतु वह तो ईद की चांद की तरह गायब हो गया था. मानस को अपना जीवनसाथी बनाना मेरे लिए गर्व की बात थी. पर वह मुझे किस प्रकार की लड़की समझते थे यह मेरे लिए प्रश्न चिन्ह था? मैंने किशोरावस्था में ही उसके साथ आगे बढ़कर सेक्स संबंध कायम किए थे यह मुझे अब लगता था कि लड़कियों को ऐसा नहीं करना चाहिए. मुझे लगता था मानस मुझे थोड़ी बदमाश टाइप की लड़की समझते होंगे. परंतु इस शादी के लिए उसने मुझे स्वीकार कर लिया था. मैं बहुत खुश थी और आज उसकी बाहों में लिपटी हुए उसके चुम्बनों का जवाब दे रही थी.
कुछ ही पलों में हमारे कपड़े एक दूसरे के शरीर से अलग होते चले गए. कौन किसके कपड़े कब खोल रहा था इसका हम दोनों को होश न था. शायद मानस को भी अपनी प्रेमिका से बिछड़े काफी समय हो चुका था और मैं तो किसी पुरुष शरीर को लगभग २-३ साल बाद छू रही थी. आगे क्या होने वाला था मुझे खुद नहीं पता पर मैंने दृढ़निश्चय किया हुआ था कि अपना कौमार्य विवाह के पहले भंग नहीं होने दूँगी. कुछ ही पलों में हम पूर्ण नग्न अवस्था में थे. मेरा हाथ मानस के राजकुमार को अपने आगोश में लिया हुआ था. परंतु मैं उसे देख नहीं पा रही थी क्योंकि हम दोनों के होंठ एक दूसरे में अभी भी सटे हुए थे.
अचानक “मानस भैया” ने मुझे को अपनी गोद में उठा लिया क्षमा कीजिएगा अब वह मेरे लिए “मानस भैया” नहीं थे. मैं उनकी मंगेतर बन चुकी थी.
उनका एक हाथ मेरी कमर को सहारा दिया हुआ था तथा दूसरा मेरी जांघों के नीचे था मैंने अपने हाथ उनकी गर्दन पर रख कर उन्हें पकड़ी हुयी थी. मेरा दाहिना स्तन उनके स्तन से से छू रहा था. उनका राजकुमार मेरे नितंबों के निचले भाग पर छूने लगा. वह मुझे गोद में लिए हुए धीरे-धीरे बिस्तर की ओर बढ़ने लगे. मुझे यह दृश्य बेड के साथ लगे हुए आईने में दिखाई पड़ा. अत्यंत कामुक दृश्य था. मैं खुद भी शर्मा गई. उन्होंने मुझे बिस्तर पर लाकर रख दिया. बिस्तर पर एक सुंदर सी सफेद रंग की चादर बिछी हुई थी जिस पर 2 गोल्डन कलर के तकिए पड़े हुए थे. मुझे बिस्तर पर लिटाने के बाद उन्होंने मेरे सिर के नीचे तकिया रख दी और बहुत देर तक मुझे यूं ही निहारते रहे. मेरी आंखें शर्म से झुक गई थीं. उन्होंने मेरे हर भाग को बड़े प्रेम से देखा उनकी नजरें मेरे मुख मंडल से होते हुए स्तनों, कमर. नाभि मेरी जाँघों से होते हुए मेरे पैरों तक गयीं. हर भाग को वह अपनी कामुक निगाहों से देख रहे थे. मुझे लगता है वह पुरानी सीमा को आज नए रूप में देखकर खुश हो रहे थे. मेरी नजरें भी राजकुमार पर पड़ चुकी थी. राजकुमार पहले की तुलना में ज्यादा बलिष्ठ और युवा हो चुका था. उसकी कोमलता पहले से कुछ कम हो गई थी. राजकुमार पर तनी हुई नसें साफ साफ दिखाई पड़ रहीं थीं. उसका मुखड़ा आधे से ज्यादा खुला हुआ था और एकदम लाल दिखाई पड़ रहा था. राजकुमार रह-रहकर उछल रहा था मुझे उसे अपने हाथों में लेने का बहुत मन कर रहा था. पर आज मैं सब कुछ मानस के इशारे पर ही करना चाह रही थी. उनसे नजरें मिलते ही मैं अपनी आंखें बंद कर लेती थी। वह धीरे-धीरे बिस्तर पर आ गए और मेरी दोनों जांघों के बीच आने के बाद उन्होंने मेरे जांघों को फैलाना शुरू किया. मैं उनका इशारा समझ गई. मैंने अपने हाथों से जांघों को ऊपर की तरफ ले गयी. कुछ ही देर में मेरी दोनों जांघे मेरे पेट से सटी हुई थीं और पूरी तरह फैली थी. मेरी राजकुमारी कि दोनों होंठ अब अलग हो रहे थे. मैं अपनी राजकुमारी को इस तरह मानस के सामने खुला हुआ देखकर शर्म से पानी पानी हो रही थी. पर यह तो होना ही था राजकुमारी से निकलने वाला प्रेम रस दोनों होठों के बीच लबालब भर चुका था और धीरे धीरे नीचे की तरफ बहने को तैयार था. और अंततः वही हुआ प्रेम रस की बूंद होंठों से उतर कर नीचे की ओर बढ़ने लगी और देखते ही देखते मेरी दासी पर रुक गयी. मैं मानस के अगले कदम का इंतजार कर रही थी परंतु वह सिर्फ इस अद्भुत दर्शन का आनंद ले रहे थे. अचानक उनकी आवाज मेरे कानों तक आई
“सीमा तुम बहुत ही खूबसूरत हो” मैं तुम्हें अपनी मंगेतर के रूप में पाकर बहुत प्रसन्न हूँ. अपनी आंखें बंद कर लो और जब तक मैं ना कहूं आंखें मत खोलना. मैंने अपनी आंखें बंद कर ली अचानक मुझे अपनी राजकुमारी के होठों पर किसी चीज के रेंगने का एहसास हुआ मुझे लगा की मानस अपनी उंगलियां फिरा रहे हैं पर जल्दी ही मुझे एहसास हो गया कि यह उनकी जीभ थी.
मुझे मानस द्वारा किशोरावस्था में किया गया मुख मैथुन याद आ गया. वह वास्तव में एक दिव्य अनुभूति थी और आज लग रहा था वही अनुभूति दोबारा प्राप्त होने वाली थी. मेरी राजकुमारी को चूमने वाले वह पहले पुरुष थे. मेरे इतना सोचते सोचते उनकी जीभ दोनों होठों के अंदर काफी तेजी से घूमने लगी. जब वह मेरी राजकुमारी के मुख तक आती और अंदर तक प्रवेश कर जाती. उनके होंठ मेरी राजकुमारी के होठों से छूने लगते. पर एक स्थिति के बाद वह बाद रुक जाते. वो अपनी जीभ से मेरी राजकुमारी मुकुट को भी सहला रहे थे. राजकुमारी अत्यंत उत्तेजित हो रही थी. मुझसे अब बर्दाश्त नहीं हो रहा था. अचानक उन्होंने अपने हाथ मेरे स्तनों की तरफ बढ़ाएं. मेरे स्तन जो पहले छोटे हुआ करते थे अब वह सुडौल और पर्याप्त बड़े हो चुके थे. मानस के हाथों में आते ही मेरे निप्पल एकदम कड़क हो गए. उन्होंने अपनी उंगलियों के बीच में मेरे निप्पल को जैसे ही लिया मेरी राजकुमारी के कंपन शुरू हो गए अगले 10- 15 सेकंड तक मेरी राजकुमारी कांपती रही और प्रेम रस बहता रहा. मानस ने स्थिति भापकर मेरी राजकुमारी को अपने होठों से यथासंभव घेर रखा था. राजकुमारी के स्खलित होते ही मेरी जांघें ढीली पड़ गयी. मैंने अपने दोनों पैर नीचे कर लिए. मानस भी अब अपना चेहरा मेरी जांघों के बीच से निकाल चुके थे. मेरी नजर उन पर पढ़ते ही ऐसा प्रतीत हुआ जैसे कोई शेर अपना शिकार खाकर मुंह हटाया था. उनके होठों और नाक पर मेरा प्रेम रस लिपटा हुआ था. वह मेरी तरफ चुंबन करने आ रहे थे. मुझे पता था मुझे अपने ही प्रेम रस का स्वाद चखने को मिलेगा और हुआ भी यही उन्होंने अपने होंठ मेरे होंठों पर लगा दिए. उन्होंने कहा
“आज चार-पांच वर्षो बाद अपनी प्यारी राजकुमारी से मिला हूं मुझे बहुत अच्छा लगा सीमा. मेरी जिंदगी में तुम्हारा स्वागत है” होठों पर चुंबन के दौरान उनका राजकुमार मेरी राजकुमारी के होठों पर अपनी दस्तक दे रहा था. वह कभी दरारों में प्रवेश करता और राजकुमारी के मुख तक पहुंचता कभी वह मेरी भग्नाशा को छूने के बाद वापस अपनी जगह पर पहुंच जाता. वो यह बार-बार कर रहे थे. लिंग का उछलना जारी था. जब वह मेरी राजकुमारी के मुख पर पहुंचते एक बार के लिए मैं डर जाती कि कहीं मेरा कौमार्य तो नहीं भंग हो जाएगा पर वह इस बात को समझते थे. विवाह पूर्व किया गया कौमार्य भंग उन्हें बिल्कुल नापसंद था. कुछ ही पलों में उनके राजकुमार कि आगे पीछे होने की गति बढ़ती गई और राजकुमार का लावा फूट पड़ा. एक बार फिर मैंने अपने स्तनों और चेहरे पर उनके वीर्य की धार महसूस की वह भी कई वर्षों बाद. हम दोनों इसी अवस्था में लिपट कर सो गए
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Heart Chuto ka Samundar - चूतो का समुंदर sexstories 671 4,872,309 05-14-2022, 08:54 AM
Last Post: Mohit shen
Star Antarvasna Sex Story - जादुई लकड़ी desiaks 61 98,361 05-10-2022, 03:48 AM
Last Post: Yuvraj
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 40 234,490 05-08-2022, 09:00 AM
Last Post: soumya
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 22 384,913 05-08-2022, 01:28 AM
Last Post: soumya
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 150 1,399,300 05-07-2022, 09:47 PM
Last Post: aamirhydkhan
Star XXX Kahani मेरा सुहाना सफर-कुछ पुरानी यादें desiaks 339 351,623 04-30-2022, 01:10 AM
Last Post: soumya
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 40 176,349 04-09-2022, 05:53 PM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 248 2,018,672 04-05-2022, 01:17 PM
Last Post: Nil123
Star Free Sex Kahani परिवर्तन ( बदलाव) desiaks 30 159,598 03-21-2022, 12:54 PM
Last Post: Pyasa Lund
  Chudai Story हरामी पड़ोसी sexstories 30 244,839 03-20-2022, 12:55 AM
Last Post: Samar28



Users browsing this thread: 9 Guest(s)