XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
04-11-2022, 02:15 PM,
#31
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
छाया। भाग -13
विवाह की तैयारी
(मैं मानस)

हम लोगों ने तय किया की विवाह बेंगलुरु से ही किया जाए. सीमा के घर वाले चंडीगढ़ में थे पर वह बेंगलुरु आने के लिए तैयार हो गये थे. हम लोगों ने एक शादी का बड़ा हॉल बुक कर लिया था जिसमें वर वधू पक्ष के रहने के लिए अलग-अलग अवस्थाएं थी. मैरिज हाल खूबसूरत और अच्छी लोकेशन पर था तथा सर्व सुविधा सम्पन्न था.

मैंने गांव से सभी परिचित लोगों को निमंत्रित किया जो कमजोर लोग थे उनको फ्लाइट की टिकट तक भेज दी. निमंत्रण से बहुत खुश थे. सही समय पर गांव से सभी परिचित लोग आ चुके थे. गांव वालों की उपस्थिति ही विवाह कार्यक्रम में एक अलग किस्म का आनंद जोड़ देती है. उन्हें इन बड़ी शादियों की प्रतीक्षा होती है. शहर में रहने वाले लोग तो सिर्फ कुछ घंटों के लिए विवाह कार्यक्रम का आनंद लेते हैं और रात्रिभोज के बाद अपने अपने रास्ते चले जाते हैं पर गांव से आए लोग पूरे कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज कराए रखते हैं और विवाह को रंगीन बनाए रखते हैं.

सीमा की ओर से मंजुला चाची ने कमान संभाल रही थी. थी और हमारी तरफ से माया आंटी ने. छाया इस क्कार्यक्रम की मुख्य निर्देशिका थी. सब उसकी राय से कार्यक्रम को आगे बढ़ाते. शर्मा जी भी अपनी विदेश यात्रा से आकर इस विशेष कार्यक्रम के शामिल थे. गांव वालों से उनका परिचय मेरे सीनियर अधिकारी के रूप में कराया गया था. वह इस कार्यक्रम में मेरे पिता की भूमिका में दिखाई पड़ रहे थे. वह पूरे जोर-शोर से इस कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे थे.

गांव की शादियों में महिलाओं के झुण्ड का बड़ा योगदान होता है वह सब तरह तरह की रस्में करतीं हैं और इन रस्मो का भी एक अपना आनंद होता है. हमारा विवाह अंततः सभी की सहमति से हो रहा था. मुझे सिर्फ छाया की चिंता थी पर वह अब परिपक्व हो चुकी थी। उसका दुःख कभी उसके चेहरे पर नहीं आता. रस्मों के दौरान वह मेरे पास आती तो मुझे कभी कभी उसके चेहरे के पीछे उसके आंसू दिखाई दे जाते.

लड़कियां कितनी भी परिपक्व हो जाए अपनी भावनाएं नहीं छुपा पाती. आखिर मेरी प्यारी छाया भी एक लड़की ही थी।

इस विवाह में एकमात्र दुख मुझे छाया को लेकर ही था. पर धीरे-धीरे कार्यक्रम आगे बढ़ रहे थे. भविष्य में क्या होने वाला था मैं नहीं जानता पर मैं कहीं न कहीं इस बात को लेकर थोड़ा दुखी अवश्य था. महिलाओं का झुंड जब भी आता अलग-अलग प्रकार की रस्में करता इतनी सारी महिलाओं को एक साथ देख कर मन में अजीब अनुभूति होती अपने इस शादी में मैं मुख्य अतिथि जैसा महसूस कर रहा था. गांव के सभी लोग मुझे इज्जत और सम्मान की निगाहों से देख रहे थे मेरी प्रतिष्ठा शिखर पर थी. छाया को सजा धजा और खुश देख कर सब उसकी खुशी में मेरी उपलब्धता देखते. छाया अपनी पढ़ाई पूरी कर चुकी थी उसकी नौकरी के बारे में जानकर सब गांव वाले मुझे ही बधाई देते. पिछले कुछ दिनों में छाया ने अपना दुख को छुपाने के लिए अपनी कामुकता को और जीवंत कर दिया था. वह मुझे हर मौके पर खुश करने के लिए कुछ नया करती और मैं उसे अपनी पत्नी न बना पाने की लिए थोड़ा दुखी हो जाता.

अनूठा उपहार
(मैं छाया)

मानस भैया के तिलक का कार्यक्रम संपन्न हो चुका था. विवाह तींन दिन बाद होने वाला था. जिस विवाह की कल्पना में हम दोनों ने पिछले 3-4 वर्ष निकाले थे वो दिन आ चुका था. पर नियत की विडंबना थी मेरी जगह वहां सीमा दीदी को बैठना था. मानस और मैं एक दूसरे से अभी भी बहुत प्यार करते थे पर जो होना था वह हो रहा था. मुझे समझ में नहीं आ रहा था कि मैं मानस को क्या उपहार दूं पर मैं उसे यादगार बनाना चाहती थी. अंततः दृढ़ निश्चय करने के बाद मैंने मानस से कुछ घंटे एकांत में बिताने का समय मांगा. वह बोले
“ इस शादी के बीच में यह कैसे संभव होगा “
“ मैंने कहा यह आप देखिए.”
"तुम खुद भी कैसे फ्री हो पाओगी सब तैयारी तुम्हारे ही मार्गदर्शन में हो रही है”
"मैं ब्यूटी पार्लर के नाम पर समय निकाल लूंगी”
मेरी बातों में जिद थी वो मान गये. मेरी बात टालना उनके लिए असंभव था. वो मुझे बहुत प्यार करते थे.

हमने विवाह मंडप के अलावा कुछ होटलों में भी कमरे से ले रखे थे. एक होटल के कमरे के गेस्ट को आने में समय था. मानस ने दो दिन बाद दोपहर में ३.०० बजे का समय निर्धारित किया. मेरे पास २ दिन का वक्त था. मैंने अपनी पूरी तैयारी कर ली और हम तय वक्त पर होटल के लिए निकल चुके थे. मानस बार-बार मुझे प्रश्नवाचक निगाहों से देख रहे थे वह समझ नहीं पा रहे थे कि मैं उनके साथ क्या करने वाली हूँ. आपसी प्यास तो हम समारोह के बीच भी बुझा ही लेते थे. कार की सीट पर पीछे बैठे बैठे हैं वह मेरे हाथों को सहला रहे थे. मेरे चेहरे पर भी घबराहट भी और मन में भी. एक कुछ ही देर में हम होटल के कमरे में थे.

[मैं मानस]

कमरे में पहुंचते ही छाया ने मुझे अपने आलिंगन में ले लिया और मेरे राजकुमार को अपने हाथों सहलाते हुए कहा
“इस राजकुमार को मैंने बहुत प्यार किया है और कल से यह किसी और का हो जाएगा” मैं इसे एक अनूठा उपहार देना चाहती हूँ. आपको मुझे इसमें सहयोग करना होगा.”
मैं अभी भी उसकी मंशा समझ नहीं पा रहा था पर उसके हाथों में आते ही राजकुमार स्वयं उठ खड़ा होता था इसमें मेरा कंट्रोल बिल्कुल भी नहीं होता था.
जैसे छोटे बच्चे अपनी माँ को देखते ही उसके गोद में आने के लिए अपना हाँथ आगे बढ़ा देते हैं वैसे ही मेरा राजकुमार तन कर छाया के हाँथ में आ जाता था.
मैंने उसे अपने आगोश में ले लिया मैंने कहा
“ ठीक है जो तुम्हें लगता है वह करो” उस दिन उसने एक सुंदर सा सलवार सूट पहना हुआ था. उसने दुपट्टे से मेरी आंखों पर पट्टी बांध दी और मुझे बिस्तर पर लिटा दिया. मेरे कपड़े उसने पहले ही खोल दिए थे मैं बिस्तर पर नग्न लेटा हुआ था. मेरा राजकुमार पूरी तरह अपना छाया के हाथो अपना स्खलन कराने के लिए तैयार था. मेरी आंखों पर पट्टी बंधी होने की वजह से मैं छाया को नहीं देख पा रहा था. छाया अब मेरे ऊपर आ चुकी थी और मुझे उसके स्तनों का एहसास हो रहा था. मेरे हाथ उसके स्तनों को सहला रहे थे. उसके होंठ मेरे होंठों पर थे. राजकुमार राजकुमारी के होंठो में अपना स्थान तलाश रहा था. कुछ ही देर में छाया धीरे-धीरे मेरे छाती को चुमती हुई नीचे की तरफ बढ़ी. अब राजकुमार उसके मुख में अठखेलियां कर रहा था. उसने अबकी बार अपने मुख से एक कृत्रिम योनि का निर्माण किया और राजकुमार को वह सुख देने लगी. राजकुमार को यह क्रिया बहुत पसंद थी और वह उछल रहा था अचानक मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे छाया उसके ऊपर कोई चीज लपेट रही थी. राजकुमार उस अनजाने आवरण के अंदर आ गया था. एक बार के लिए मैं डर गया की कही छाया ने बदला लेने के लिए कुछ और तो नहीं सोचा है?
पर वह मेरी प्यारी छाया थी. बदला ? यह असंभव था. हम दोनों एक दुसरे के लिए जान भी दे सकते थे.
मेरी आंखें बंद थी और कौतुहल चरम पर. राजकुमार का तनाव कुछ कम जरूर हुआ पर वह वापस सामान्य रूप से तन गया था. छाया अपने हाथों से राजकुमार को सहला रही थी कुछ ही देर में मुझे अपनी कमर पर छाया के बैठने का एहसास हुआ. उसके दोनों पैर मेरी जांघों के दोनों ओर थे. उसकी राजकुमारी राजकुमार के संपर्क में थी. पर उस लिपटी हुए चीज की वजह से दोनों में सीधा संपर्क नहीं हो पा रहा था. मैं अपने हाथ उस चीज को हटाने के लिए बढाया पर उसे छाया ने रोक लिया छाया. वह एक बार फिर मेरे होठों तक आई और मुझे प्यार से चूम लिया.
कुछ ही देर में मुझे अपने राजकुमार के मुख पर किसी पतले और सकरे रास्ते का अनुभव हुआ. छाया का वजन मेरे राजकुमार पर बढ़ता जा रहा था. राजकुमार अब दर्द में था पर वह उस पतले रास्ते में प्रवेश कर रहा था. जैसे जैसे छाया की कमर धीरे-धीरे नीचे आ रही थी राजकुमार उस अनजानी सकरी और तंग गुफा में जा रहा था. छाया हांफ रही थी. मैं समझ नहीं पा रहा था की छाया यह क्या कर रही हैं. मैं तो अद्भुत आनद में था. राजकुमार ने यह अनुभव पहली बार प्राप्त किया था. मुझे लगा कहीं ऐसा तो नहीं कि वह अपना कौमार्य आज ही परित्याग कर रही हो. यह मेरे लिए पीड़ादायक चीज होती मैंने उसे वचन दिया था कि उसका कौमार्य भंग नहीं होने दूंगा. कहीं ऐसा तो नहीं कि वह भावावेश में आकर ऐसा कर रही हो. मैं इतना सोच ही रहा था की तभी छाया के नितंबों का एहसास मुझे अपनी जाँघों पर हुआ. राजकुमार अनजानी गुफा में पूरी तरह प्रवेश कर चुका था. छाया की कोई और गतिविधि मुझे महसूस नही ही रही थी।
राजकुमार उस गहरी गुफा में जाने के बाद पूरी तरह तन चुका था. अचानक छाया मेरी तरफ झुकी और मेरे होठों को अपने होंठों के बीच ले लिया और मेरी आंखों पर पड़ी हुई पट्टी स्वयं ही हटा दी. मैंने आंखें खोली और अपनी उसकी आंखों में आंसू थे. आंसू की एक बूंद मेरे गाल पर भी गिरी. मैंने अपने हाथों से उसके आंसू पोछे और उसके गाल अपने गाल से सटा लिए . मैं उससे यह भी नहीं पूछ पा रहा था उसने मेरे राजकुमार के साथ क्या किया. कुछ ही देर में वह सामान्य हो गई और वापस मेरे होठों को चूमने लगी. अब वह अपनी कमर को आगे पीछे कर रही थी. मेरा राजकुमार उस अनजानी और गहरी गुफा मैं आगे पीछे हो रहा था. वह तो इन्हीं गुफाओं की प्रतीक्षा में पिचले २५ वर्षों से था. उसे पतले और तंग रास्ते हमेशा से पसंद थे. उसकी उछल कूद बढ़ रही थी. मैं इस अद्भुत आनंद के लिए छाया का ऋणी हो रहा था. मुझे बार-बार चूमती जा रही थी. उसने कमर हिलाने की गति बढ़ा दी. कुछ ही देर में मेरे राजकुमार ने गहरी गुफा की चाल से अपनी गति मिला ली. अब मेरी कमर भी उसी गति में हिलने लगी. छाया मुझे चूमती जा रही. कुछ ही देर में राजकुमार स्खलित होने के लिए तैयार था मैं अपने राजकुमार को उस गुफा से बाहर निकालना चाहता था और हमेशा की तरह अपनी प्यारी छाया को भिगोना चाहता था पर मैंने राजकुमारी के कंपन अभी तक महसूस नहीं किये थे. राजकुमार राजकुमारी को छोड एक अलग ही दुनिया में आनंद ले रहा था. एक बार के लिए मुझे लगा जैसे छाया ने कोई कृत्रिम योनी लायी थी. पर छाया मुझसे सटी हुए थी मैं नीचे नहीं देख पा रहा था. राजकुमार का लावा फूटने वाला था मैं उसे बाहर निकालना चाह रहा था पर बिना छाया के सहयोग के बाद संभव नहीं था. वह अपनी गति को विराम नहीं दे रही थी अंततः राजकुमार ने अपना वीर्य उसी गहरी गुफा में छोड़ दिया. इसका आनंद भी अद्भुत था. वीर्य प्रवाह के दौरान थे मैं अपनी कमर को बड़ी तेजी से हिला रहा था. राजकुमार भी गहरे तक उतर जाना चाह रहा था.
वीर्य स्खलन समाप्त होते ही मैं सुस्त हो गया. छाया मुझे अभी भी चूम रही थी. कुछ देर बाद छाया उठ रही थी. मेरा राजकुमार उसकी इस अनजानी गुफा से बाहर आ रहा था. मुझे उसकी राजकुमारी मुझे स्पष्ट दिखाई पड़ रही थी. और मेरा राजकुमार अभी भी अनजानी गुफा के अंदर था.
मुझे समझते देर न लगी कि आज छाया ने मेरे वचन की लाज रखते हुए मेरे राजकुमार को उपहार में अपनी प्रिय दासी को समर्पित किया था. छाया की दासी से राजकुमार अब बाहर आ रहा था वह पूर्णता स्वच्छ और साफ दिखाई दे रहा था. छाया ने अपने हाथों से उस रबड़ नुमा चीज को बाहर निकाला. मेरा सारा वीर्य उस रबड़ नुमा थैली में एकत्रित हो गया था. छाया उसे लेकर बाथरूम की तरफ चल पड़ी. वापस आने के बाद उसने मुझे फिर से चुमाँ और राजकुमार को अपने हाथों से सलाया राजकुमार बहुत खुश था. उसने उछल कर अपने अंदाज में छाया को धन्यवाद दिया.
मैंने छाया की राजकुमारी को सहलाने की कोशिश की उसने रोक दिया और कहा
“चलिए देर हो रही है कुछ ही देर में हम दोनों वापस टैक्सी में थे” मैंने छाया का हाथ अपने हाथों में लेते हुए कहा
“ छाया तुम अनूठी हो और तुम्हारा उपहार भी अनूठा था” मेरी बातें सुनकर वह बहुत खुश हो गई थी उसने मेरा हाथ चूम लिया और कहां
“मानस भैया मुझे भूख लगी है. मैंने दो दिन से अन्न नहीं खाया है.”
मैं समझ गया और फिर से उसे चूम लिया. मैंने उसकी पसंद का पिज्जा लिया वो उसे खाते हुए बोली
“मैं आपकी और अपने राजकुमार की खुशी के लिए किसी हद तक जा सकती हूँ” मैं मुस्कुरा रहा था पर मेरी आँखों में आसू थे. कुछ ही देर में हमारी गाड़ी विवाह मंडप के पोर्च में थी.
Reply

04-11-2022, 02:16 PM,
#32
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग -14
विवाह कार्यक्रम

(मैं छाया)
मानस की हल्दी का कार्यक्रम हो रहा था। गांव से आई हुई सारी महिलाएं मानस को हल्दी लगा रही थी और तरह-तरह के विवाह गीत गा रही थीं। विवाह गीत की मधुरता हर सुनने वाले के कान में शहद घोल देती है। कुंवारी लड़कियां और कुंवारे लड़के इन गीतों को सुनने के पश्चात स्वयं को एक बार अवश्य उस जगह रख इन गीतों का आनंद लेते हैं। मानस भैया की हल्दी और चुमावन की रस्म में गाए जाने वाले गीतों में मुझे उनकी बहन कह कर संबोधित किया जा रहा था। मेरे लिए यह रिश्ता असहनीय हो गया था। मेरे और मानस के अलग होने में इसी रिश्ते का सबसे ज्यादा योगदान था। परंतु जो होना था वह रोका नहीं जा सकता था।
हल्दी की रस्म के पश्चात मानस कमरे से लगे बाथरूम में जाने लगे और सारी महिलाएं उस कमरे से बाहर आ गयीं। मेरी मां ने कहां अरे मानस की हल्दी तो ले लो बहू (सीमा) को भेजना होगा। सीमा की हल्दी के लिए शायद यह एक रस्म थी। मेरे मुंह से तपाक से निकला "मां मैं लेकर आती हूं" मैंने कमरे का दरवाजा खटखटाया और मानस ने दरवाजा खोला। वह अब तक तोलिया लपेटकर नहाने की तैयारी कर रहे थे। मैंने पास पड़ी हल्दी का कटोरा उठाया और उनके पास आकर तोलिया हटा दिया। राजकुमार पता नहीं क्यों तनाव में था। मुझे लगा शायद हल्दी की रस्म में कई महिलाओं के हाथ शरीर पर लगने से राजकुमार उत्तेजित हो गया था। मैंने मुस्कुराते हुए अपने हाथों से हल्दी निकाली और राजकुमार पर लगा दी। मानस भैया बोले छाया मत करो कोई आ जाएगा। मैंने कहा
*मां ने कहा है आपके शरीर की हल्दी सीमा भाभी के लिए जाएगी इसलिए मैं आपसे शरीर से हल्दी ले रही हूँ" वह मेरी हल्दी लेने की इस विधि को देखकर मुस्कुराने लगे और अपने आलिंगन में ले लिया। मैंने राजकुमार को हल्दी से पूरा भिगो दिया और फिर अपने हथेलियों से दबाव बढ़ाते हुए उसके ऊपर लगी हुई सारी हल्दी उतार ली। मानस भैया के राजकुमार से निकली हुई लार इस हल्दी में शामिल हो चुकी थी। शायद यह लार सीमा भाभी के लिए उनका प्यार था। मैं उस अनूठी हल्दी को लेकर बाहर आ गयी। जब मैं मानस भैया के लिंग से अठखेलियां कर रही थी तो उन्होंने मेरे स्तनों को छू लिया था जिससे मेरे कंधों पर और स्तनों के ऊपर कपड़ों पर हल्दी के दाग लग गए थे। जैसे ही मैं कमरे से बाहर आई गांव की एक लड़की ने टोका "छाया दीदी मानस भैया के साथ साथ आपको भी थोड़ी हल्दी लग गई" मैं शरमा गई पास में खड़ी कई सारी महिलाएं हंसने लगी. वह यह तो नहीं समझ पायीं कि यह मानस के हाथों का कमाल था पर मेरी मां मुस्कुरा रही थी वह जान रही थी कि मैंने और मानस ने हल्दी की रस्म अपने हिसाब से ही निभा ली थी।
मां ने कहा छाया हल्दी लेकर जा और सीमा के घर वालों को दे दे वो इंतजार कर रहे होंगे। मैं मुस्कुराते हुए सीमा दीदी के कमरे की ओर चल पड़ी कुछ ही देर में सीमा भाभी की भी हल्दी की रस्म शुरू हो गई कमरे से आ रही हंसी की आवाजें आ रही थी। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे महिलाएं सीमा दीदी के प्यारे स्तनों और कोमल शरीर पर हल्दी लगा रही होंगी मैं भी उसमें शामिल होना चाह रही थी पर यह संभव नहीं था। मैंने इंतजार किया मैंने उस हल्दी में से कुछ भाग अपने हिस्से के लिए बचा कर रख लिया था। जैसे ही हल्दी की रस्म खत्म हुई और सारी महिलाएं बाहर आ गई तो मैंने सीमा दीदी को मोबाइल पर मैसेज कर मुझे बुलाने के लिए कहा । वह नहाने जाने से पूर्व मुझे बुलाने के लिए किसी लड़की को भेजा। मैं बाहर लॉन में इंतजार ही कर रही थी उनके बुलावे पर मैं अपने हाथ में थोड़ी सी हल्दी लिए हुए उनके कमरे में आ गयी। सीमा ने दरवाजा बंद कर लिया वह निश्चय ही यह जानती थी कि मेरे मन में कुछ ना कुछ जरूर चल रहा था उसने मुझे अपने आलिंगन में ले लिया मैं पूरी सजी-धजी थी और वह हल्दी में डूबी हुई। मैंने सीमा दीदी का घाघरा खोल दिया वह अपने वजन से नीचे की तरफ सरक गया और सीमा दीदी मेरी आंखों के सामने कमर के नीचे नंगी हो गयीं। महिलाओं ने उनकी जांघों तक में हल्दी लगा दी थी पर उनकी राजकुमारी एकद साफ बची थी। मैंने अपने हाथों में ली हुई हल्दी को उनकी राजकुमारी पर लगा दिया मानस भैया के राजकुमार के लार में डूबी हुई वह हल्दी उनकी राजकुमारी पर लगाते समय मुझे हर्ष हो रहा था। वह मुस्कुरा रही थी उन्होंने कहा
"मेरा सारा शरीर तो हल्दी से मेरे रिश्तेदारों ने ढक दिया था सिर्फ यही जगह बाकी थी जो मेरी प्यारी छाया के लिए ही बची थी सच कहूं तो मुझे भी तुम्हारी इसी अदा का इंतजार था उन्होंने मुझे होठों पर चूम लिया हमारे पास समय कम था।

(मैं मानस)

मैं छाया को तैयारियों में व्यस्त देखकर उसका ऋणी हो रहा था। पिछले दिन उसका दिया हुआ अनूठा उपहार अद्भुत था। मुझे नहीं पता की सुहागरात के बाद संभोग में मुझे ज्यादा सुख मिलता या नहीं पर जो सुख छाया ने दिया था वह अद्भुत था. विवाह के दिन भी वह कई बार मेरे राजकुमार को तनाव में ले आती उसे सहलाती और बिना स्खलित किये हट जाती. एक दो बार मैंने भी उसके नितंबों को छुआ और राजकुमारी को सहला दिया इस भरी भीड़ भाड़ में ऐसा करना पर्याप्त रिस्क लेने जैसा था. पर यही तो उसकी आदत थी वह विषम परिस्थितियों में भी उत्तेजना कायम रखती थी.
लड़के की बहन होने के कारण इस कार्यक्रम में वह मुख्य भूमिका में थी. बारात जाने के दौरान उसने जी भर कर डांस किया था. सभी लोग उसके नृत्य के कायल थे। नृत्य कला में वह पहले भी पारंगत थी. उसने अपने कालेज में भी कई प्रोग्राम किए थे. उस नवयौवना का मादक नृत्य देखकर सारे लोग अचंभित थे. उसका नृत्य सबको अलग-अलग सुख दे रहा था। विवाह में आए मनचले लड़के उस नृत्य को देखकर अपने अपने राजकुमार में जरूर तनाव महसूस कर रहे होंगे. घोड़े की पीठ पर बैठा मैं स्वयम उसका नृत्य देखकर अचंभित हो रहा था. पर आज वह एक अलग किस्म के नशे में थी. उसने पूरे रास्ते नृत्य किया. उसकी वेशभूषा अत्यंत सुंदर थी. वह पूरे समय हमारे साथ विवाह कार्यक्रम में रही उसकी सुंदरता वधू पक्ष में भी चर्चा का विषय थी. हम दोनों एक आदर्श भाई बहन की भांति दिखाई पड़ रहे थे।
पुरुष और स्त्री में संबंध आपकी निगाहों से होता है. आज से 1 वर्ष पहले माया आंटी को हम दोनों कामदेव और रति दिखाई पड़ रहे थे पर आज लोगों की निगाहों में हम आदर्श भाई बहन के रूप में खड़े थे. हमें यह रिश्ता पूर्णतयः अस्वीकार था. छाया मेरी ऐसी प्रेमिका थी जिससे मेरा विवाह ना हो पाया था. पर हमारी आत्माएं पहले ही मिल चुकीं थीं।
अंततः विवाह संपन्न हुआ छाया ने मेरा और सीमा दोनों का ख्याल रखा था। विवाह संपन्न होने के बाद हम दोनों को बधाई दी. वह बहुत खुश लग रही थी. उसने सीमा के गाल पर पप्पी ली और मेरे चरण छुए.
विवाह संपन्न हो चुका था मैं सीमा के घरवालों के बीच कुछ देर और रहा उनके द्वारा दिए गए उपहारों को स्वीकार करता रहा.
अगले दिन दोपहर तक सारे कार्यक्रम खत्म हो चुके थे. विवाह कार्यक्रम में आए लोग भी वापस जा रहे थे. छाया भी आज रात की तैयारियों में लग गई थी. आज मेरी और सीमा की सुहागरात थी.
Reply
04-11-2022, 02:16 PM,
#33
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग -15
सीमा की सुहागरात
सीमा पारंपरिक अंदाज में शीशे के गिलास में दूध लिए हुए कमरे में आई उसने सुर्ख लाल रंग की साड़ी पहन रखी थी. उसके शरीर पर आभूषण बहुत खिल रहे थे. छाया द्वारा बनवाया गया हार उसके गले में था. साड़ी की वजह से उसके स्तन स्पष्ट रूप से उभरे हुए दिख रहे थे. लाल रंग की साड़ी के बीच से गोरा पेट स्पष्ट रूप से दिखाई पड़ रहा था. पेट के बीच में उसकी नाभि खूबसूरती पर चार चांद लगा रही थी. साड़ी में स्त्रियों का उभार एक अलग ही रूप ले लेता है. साड़ी में सादगी और कामुकता दोनों का मिश्रण होता है यह आज दिखाई पड़ रहा था. आज उसकी कामुकता हावी थी साड़ी का रंग लाल था और आंखों मेमे भी लालिमा थी, आंखों में काजल और पलको की सजावट ने उसे और मादक बना दिया था. छाया ने मुझे बताया था की सीमा अभी तक कुंवारी है. मैं भी आज तक कुवारां ही था. छाया द्वारा दिया गए अनूठा उपहार पता नहीं किस श्रेणी में रखा जाएगा पर मेरे लिए तो वह अविस्मरणीय था. सीमा धीरे धीरे मेरे पास आ रही थी. उसने मुझे गिलास दिया. मैंने उसे अपने बगल में बैठा लिया. आज मैं भी इस सुहागरात के पल को अपनी जानकारी के हिसाब से यादगार बनाना चाहता था. मैंने अपने हाथों से वही दूध सीमा को पिलाना चाहा उसने अपने होंठ लगाए और एक घूंट पी लिया. मैंने भी थोड़ा सा दूध पीकर गिलास बगल में रख दिया. सीमा मेरे अगले कदम की प्रतीक्षा कर रही थी. अभी कुछ दिनों पहले ही मैंने और सीमा ने इसी बिस्तर पर रासलीला की थी. पर आज की बात विशेष थी. सीमा ने ही मुझे सबसे पहले सेक्स से परिचित कराया था. यह राजकुमार पहले उसका ही दीवाना था पर सीमा में संवेदना की कमी मुझे महसूस होती थी. वह राजकुमार को प्यारी तो थी पर ऐसा लगता था जैसे उसके लिए सिर्फ यही राजकुमार नहीं था बल्कि वह कई और राजकुमारों की सेवा करती थी. इस उधेड़बुन में सीमा व्यग्र हो रही थी. मैंने उसके हाथों को अपने हाथों में ले लिया और हथेलियों से उसे सहलाने लगा.
“ अंततः तुम मेरी हो गई”
“हां मुझे खुशी है कि मैं कि मैंने जिस राजकुमार को अपनी राजकुमारी से मिलाया था आज वही राजकुमार उसका कौमार्य भेदन करेगा “ कहकर वह मुस्कुरा रही थी. मैंने उसे गालों पर चूम लिया . मैंने उसे बताया उसकी दी गई गुरु दक्षिणा को मैंने अभी तक संभाल कर रखा है. वह यकीन नहीं कर पा रही थी. मैंने अलमारी खोलकर वह लाल पैंटी बाहर निकाल दी जिस पर हम दोनों के प्रेम रस के दाग लगे हुए थे. उसे देख कर वह बहुत खुश हुयी. उसने उस पेंटी को सीधा किया उसने मुझे चूम लिया और बोली
“सच में आप बहुत अच्छे हैं. मैं तो आपको यह मजाक में दिया था”
“तुम्हारी दी हुई थी इस दक्षिणा ने मेरे जीवन में बदलाव लाया था. तुम्हारा राजकुमारी दर्शन मेरे जीवन की अद्भुत खड़ी थी. तुम मेरी कामकला की सूत्रधार हो” वह मुस्कुराते हुए और आकर मेरे आलिंगन में आ गई. कुछ ही देर में हमारे वस्त्र हमारा साथ छोड़ते गए. सीमा के वस्त्र उतारते समय अजीब अनुभूति हो रही थी. कभी-कभी मुझे उसके स्तनों में छाया के स्तन दिखाई देते. सीमा के शरीर की कसावट मुझे तुरंत हकीकत में ले आते. कुछ ही देर में सीमा पूर्णतयः नग्न थी. वह अत्यंत मादक लग रही थी. हाथ पैरों में मेहदी की सजावट तथा कौमार्य भेदन की उत्सुकता ने उसे और शर्मीला बना दिया था. उसके चेहरे और शरीर में छाया जैसी कोमलता नहीं थे परंतु एक मदमस्त यौवना की तरह स्त्री सुलभ लज्जा अवश्य थी. उसके शरीर के उभार दर्शनीय थे मैंने उसे भी गोद में उठा लिया जिस तरह से मैं छाया को उठाया करता था. सीमा को उठाने के बाद मुझे ऐसा महसूस हुआ जैसे वो छाया से ज्यादा भारी थी फिर भी मैंने उसको चूमते हुए बिस्तर पर ले आया कुछ ही देर में हम दोनों अपने प्रेमलीला में व्यस्त हो गए.

सीमा की राजकुमारी को चूमते समय राजकुमार उछलने लगा था. उसे इंतजार अब बिल्कुल पसंद नहीं आ रहा था. इतनी मादक नव योजना सामने जांघें फैलाए नग्न लेटी हुई थी यह दृश्य मात्र ही राजकुमार के उछलने के लिए काफी था. सीमा की राजकुमारी के मुख पर प्रेम रस की बूंदे आ चुकी थी. मेरे राजकुमार ने उसके होठों के बीच अपनी जगह बनानी शुरू कर दी. प्रेम रस की वजह से उसकी फिसलन बढ़ चुकी थी . राजकुमार ने सबसे पहले इसी से स्नान का आनंद लिया. शायद उसे वह सुख याद आ रहा था जब वह बार-बार छाया की
राजकुमारी के मुख में जाता और वापस आ जाता. वैसे इस क्रिया की शिक्षा भी सीमा ने ही दी थी. हम लोग छुपन छुपाई के दौरान कई बार इसका आनंद भी लिया था. आज भी राजकुमार उसी आनंद में मशगूल था. मेरी नजरें सीमा से मिलते ही वह मुस्कुरा पड़ी. उसे भी शायद वह छुपन छुपाई का खेल याद आ रहा था. हम कुछ देर इसी अवस्था में रहे राजकुमार उसके मुख में हर बार कुछ ज्यादा अंदर प्रवेश कर रहा था. सीमा की धड़कनें बढ़ रहीं थीं. यह क्रिया धीरे-धीरे तीव्र होती जा रही थी . राजकुमार अब राजकुमारी के अंदर प्रवेश करने लगा था. वह अंदर प्रवेश करता है तथा उसके होठों के बीच से बाहर आ जाता. अचानक मेरा सब्र टूट गया मैंने सीमा के होठों पर किस किया और उसकी रजामंदी से राजकुमार अन्दर प्रवेश करा दिया. सीमा को तेज दर्द हुआ उसने अपने होंठ अपने दांतो के नीचे दबा लिया मैंने अपने होंठ में उसके होंठों को लेकर प्यार से चूसने लगा. सीमा की राजकुमारी अब रानी बन गयी थी. धीरे धीरे सीमा खुश हो गई थी. शायद जितने दर्द की उसने कल्पना की थी उससे कम दर्द हुआ था.
स्त्री की उत्तेजना उसके प्रथम संभोग के दर्द को कम कर देती हैं ऐसा मैंने पढ़ा था और आज अपनी आंखों से देख रहा था. सीमा की राजकुमारी पूरी तरह उत्तेजित थी और प्रेमरस बहा रही थी और इसी अवस्था में उसका कौमार्य भेदन हुआ था. कुछ देर इसी अवस्था में रहते हुए मैंने अपने राजकुमार को सीमा के अंदर और भी गहराई तक प्रविष्ट करा दिया. राजकुमार का लगभग पूरा सीमा की राजकुमारी के अंदर था. सीमा की अनुभूति एक अलग तरह की थी. उसकी आंखों में हल्के हल्के आंसू थे निश्चय ही वह शुरुआती दर्द के रहे होंगे पर अब उसमें खुशी के आंसू भी शामिल हो चुके थे. वह मंद मंद मुस्कुरा रही थी. मैं उसे उसकी जीत पर बधाई दे रहा था. मैं उसके माथे और गाल को बार-बार चूम रहा था और उसे यह बता रहा था कि उसने विजय प्राप्त कर ली है. वह खुश थी कुछ ही देर में मैंने अपनी कमर को थोड़ा आगे पीछे करना शुरू किया. मेरे राजकुमार के बाहर आने और अन्दर जाने जाने से राजकुमारी भी आनंद उठा रही थी. कुछ देर तक यह सुख लेने के बाद उसने मुझे नीचे आने का इशारा किया मैं समझ गया वह ऊपर आना चाहती है. सीमा पहली बार में ही सारे सुख ले लेना चाहती थी या हो सकता इस अवस्था में उसे कष्ट हो रहा हो. मुझे लगा था जैसे उसने भी ब्लू फिल्मे अवश्य देखी थी.
अंततः मैं नीचे और सीमा मेरे ऊपर आ चुकी थी. राजकुमार राजकुमारी से दूर था अचानक मेरी नजर उसके राजकुमारी पर पड़ी जो अब रक्तरंजित हो चुकी थी. मेरा राजकुमार भी घायल लग रहा था पर यह रक्त उसका नहीं था. यह विजय तिलक उसकी रानी ने लगाया था। सीमा का ध्यान उस ओर जाता इससे पहले ही मैंने उसे अपनी ओर खींच लिया और उसके होठों को फिर से चूम लिया. सीमा के स्तन मेरे सीने से सटे हुए थे. मैं उसके होठों को चूम रहा था. राजकुमार राजकुमारी से मिलने के लिए अपना रास्ता तलाश रहा था और कुछ ही देर में वह उसके मुख में प्रवेश कर रहा था. .
सीमा के प्रेमरस की मात्रा रक्त से ज्यादा थी जो राजकुमार को रास्ता दिखा रही थी. आगे प्रवेश करने के लिए या तो सीमा या मुझे अपनी कमर को आगे पीछे करना था. मैंने यह कार्य सीमा के हवाले कर दिया था और चुपचाप शांत पड़ा हुआ था. राजकुमार राजकुमारी के मुख के अंदर था. मैं सीमा को प्यार से चुंबन ले रहा था अचानक मैंने सीमा की राजकुमारी को पीछे की तरफ जाते महसूस किया. सीमा की कमर पीछे जा रही थी. राजकुमार राजकुमारी में विलुप्त हो रहा था. राजकुमारी राजकुमार के ऊपर आ रही थी और उसे अपनी आगोश में ले रही थी. कुछ ही देर में मेरा लिंग अब पूरी तरह प्रवेश कर चुका था. वह बहुत खुश थी की मेरे लिंग को अपने अंदर पूरी तरह ले पा रही थी. उसका दर्द खत्म हो चुका था वह अपनी कमर को धीरे-धीरे आगे पीछे करने लगी. मैं उसके स्तनों और नितंबों को सहला रहा था. कुछ ही देर में घायल राजकुमारी उग्र रूप ले चुकी थी. मैं महसूस कर पा रहा था कि अब स्खलित होने वाली थी. मैंने सीमा को अपने आगोश में ले लिया. मैंने अपनी कमर की गति को सीमा सीमा की कमर की गति से मिला लिया. मेरी इस क्रिया ने राजकुमार और राजकुमारी के बीच चल रहे संघर्ष को और बढ़ा. दिया. राजकुमारी अब स्खलित रही थी. मेरा राजकुमार की तीव्र गति, सीमा के स्खलन को बढ़ा रही थी. मैंने सीमा की अपने ऊपर पूरी तरह लिटा लिया था तथा अपने हांथो से उसे अपने से सटाया हुआ था. वह चाह कर भी हिल नहीं सकती थी. मैं चाहता तो अपनी कमर को विराम देकर राजकुमारी का सामान्य स्खलन हो जाने देता. परंतु आज का दिन विशेष था. मेरा एक हाथ उसकी कमर को मुझसे चिपकाए हुए थे तथा दूसरा उसकी पीठ पर था. उसके होंठ मेरे होंठों में थे. स्खलित हो रही राजकुमारी में राजकुमार का इस तरह तीव्र गति से अंदर बाहर होना सीमा से सहन नहीं हो रहा था वह कांप रही थी. मुझे उसकी कंपकपाहट अच्छी लग रही. वह राजकुमारी को हटाना चाह रही पर यह संभव नहीं था. राजकुमार ने भी अपना लावा उडेलना शुरू कर दिया था. अंततः राजकुमारी का स्खलन हो गया. आज मैंने अपना सारा वीर्य राजकुमारी के अंदर ही छोड़ दिया था. हम दोनों कुछ देर इसी अवस्था में रहे. राजकुमारी के अंदर भरा हुआ मेरा वीर्य अब धीरे-धीरे बाहर आ रहा था. जैसे-जैसे राजकुमार का तनाव कम होता वैसे वैसे बहाव तेज होता. इसी अवस्था में एक दुसरे को चुमते हुए हम कब सो गए पता ही नहीं चला.
एक बार मेरी नींद खुली मैं बाथरूम गया और आने के बाद मैंने देखा सीमा गहरी नींद में सोई हुई है. चादर हटी हुई थी. उसकी दोनों जांघों के बीच से झाकती उसकी रक्त रंजित राजकुमारी को देखकर मुझे अत्यंत उत्तेजना हुयी. मैंने सीमा को बाहों में ले लिया उसकी नींद खुल चुकी थी. वह मुझे फिर से प्यार करने लगी शायद उसने भी इस सुहागरात को यादगार बनाने की सोची होगी पर अत्यधिक थकावट की वजह से उसे नींद आ गई थी. वह पूरी तरह खुश लग रही थी. रक्त रंजित राजकुमारी के बारे में कुछ भी याद नहीं था. कुछ ही देर में राजकुमारी का प्रेम रस राजकुमार को आकर्षित करने लगा. दोनों एक दूसरे के संपर्क में आ रहे थे और हम दोनों एक बार फिर संभोगरत हो गए.
Reply
04-11-2022, 02:16 PM,
#34
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
मानस, सीमा और मैं
[मैं छाया]

मानस और सीमा हनीमून से वापस आ चुके थे. सीमा के पास मुझे बताने के लिए बहुत कुछ था पर हम दोनों के पास समय बहुत कम था. शाम को नौकरी से आने के बाद मुश्किल से एक 2 घंटे का समय मिलता जो घर के कार्य निपटाने में चला जाता. रात में सीमा और मानस एक कमरे में चले जाते और मैं मैं अकेली रह जाती. पर कुछ ही दिनों बाद मानस को ऑफिस के कार्य से 2 दिनों के लिए बेंगलुरु से बाहर जाना पड़ा. यह मेरे और सीमा के लिए एक उचित अवसर था. मानस के जाने के बाद मैं और सीमा घर में अकेले रह गए थे. हमने उस दिन जानबूझकर छुट्टी ले ली थी मुझे सीमा के साथ सेक्स किए हुए लगभग 20 दिन बीत चुके थे. सीमा भी मुझे उतना ही प्यार करती थी हम दोनों एक दूसरे के लिए दो जिस्म एक जान थे. यदि वह पुरुष होती तो निश्चय ही मेरी मंगेतर होती ऐसा वह कहती थी.

सुबह घर के कार्य निपटाने के बाद हम दोनों बिस्तर पर आ चुके थे. सीमा अब शादीशुदा हो चुकी थी. उसने मुझे अपनी सुहागरात से लेकर हनीमून तक के सारे किस्से सुना डालें. मानस शुरू से ही रोमांटिक थे यह बात मैं भली-भांति जानती थी. मुझे पूरी उम्मीद थी कि इन दोनों का हनीमून बहुत ही सुखद और यादगार तरीके से गुजरा होगा. सीमा की बातें सुन सुन कर मेरी राजकुमारी प्रेम रस छोड़ने लगी थी. जब वह मानस के बारे में बात करती तो वह शर्मा जाती थी. मैंने पूछा
“मानस का राजकुमार ज्यादा अच्छा था या सोमिल का”
वह हंस पड़ी बोली
“दोनों अपनी अपनी जगह सही हैं मानस का राजकुमार थोड़ा छोटा सा पर है बहुत प्यारा”
वह मानस के बारे में बात करते समय थोड़ा सकुचा रही थी. मैंने पूछा तो उसने कहा
“मानस तुम्हारा भाई है तुम उसके बारे में यह सब बातें कैसे कर सकती हो?” मैंने उन्हें सामान्य करने के लिए कहा
“वह मेरा भाई बाद में है पहले मेरा जीजा है” कह कर हंस दी. वह भी हंसने लगी.

मैंने और मानस ने इस भाई बहन के थोपे गए अनचाहे रिश्ते का दंश झेला था। इसने हमारे पवित्र और पावन मिलन को रोक दिया था। हमारा मिलन तो अभी भी होता था पर उसमें सामाजिक मान्यता नहीं थी। मैंने और मानस में दृढ़ निश्चय कर लिया था कि इस अनचाहे रिश्ते में हम अपने प्रेम को कायम रखेंगे। यह भाई बहन का शब्द अब हमारी उत्तेजना का सबसे बड़ा स्रोत था। जैसे ही हम यह शब्द सुनते हमारी उत्तेजना चरम पर पहुंच जाती मानस भैया का राजकुमार भी इन संबोधनों को सुनकर हमारी सहमति में अपना सर हिलाने लगता और मेरी राजकुमारी मुस्कुरा उठती।
सीमा ने मानस के राजकुमार के बारे में विस्तार से बताया. मुझे सुनकर खुशी हो रही थी कि वह मुझसे बेझिझक होकर बातें कर रही थी. बातों ही बातों में मैंने उससे कहा
“मुझे तुम्हें संभोग करते हुए देखना है.”
“धत पगली ऐसा कैसे हो सकता है तुम्हें शर्म नहीं आएगी. मानस तुम्हारा भाई है क्या तुम अपने भाई को अपनी आंखों के सामने नग्न होकर मेरे साथ संभोग करते हुए देख पाओगी?”
मैंने कहा
“मुझे संभोग करते हुए देखना है यह अलग बात है कि संभोग करने वाला कौन है. मैं देख लूंगी पर क्या आप यह दर्शन सुख मुझे दिला पाओगी.”
सीमा के हाव भाव देखकर ऐसा लगता था जैसे उसे इन बातों में आनंद आ रहा था. वह मन ही मन मुझे इन सब दृश्यों को दिखाने की प्लानिंग कर रही थी. उसने मुझसे फिर बोला
“क्या सच में तुम देखना चाहती हो?”
मैंने कहा
“जरूर“
कुछ ही देर में हम दोनों फिर आलिंगन बद्ध हो चुके थे. धीरे धीरे हम नग्न होते गए और कुछ ही देर में हम एक दूसरे की बाहों में थे. मैंने सीमा से कहा मुझे रानी साहिबा के दर्शन करने है. उसकी राजकुमारी अब रानी बन चुकी थी. मैंने उसकी जांघों को फैला कर देखा सच में राजकुमारी के होंठ फैल चुके थे अब राजकुमारी का मुख बिना उंगलियां लगाए ही दिख रहा था. उसकी लालिमा होठों से झांक रही थी. शादी से पहले तक सीमा की राजकुमारी के दोनों होंठ आपस में चिपके रहते थे पर आज 15 दिनों के अंदर ही राजकुमारी के दोनों होठों में थोड़ी दूरी आ चुकी थी और राजकुमारी का मुख से झलक रहा था. मैंने सीमा को चूम लिया और कहा सच में राजकुमारी और रानी में स्पष्ट अंतर दिखाई दे रहा है. वह हंसने लगी और बोली
“यह तुम्हारे मानस भैया का किया धरा है. पिछले 15 दिनों में 45 बार राजा जी ने रानी पर चढ़ाई की है. मैंने सीमा की रानी साहिबा को चूम लिया सीमा खुश हो गयी थी. उसकी रानी को भी एक अलग आनंद प्राप्त हुआ था. कुछ ही देर में हम दोनों एक दूसरे की रानी और राजकुमारी को अपने होठों से तृप्त कर रहे थे. यह कला मुझे सीमा ने हीं सिखाई थी. कुछ ही देर में हम दोनों स्खलित हो गए. और उसी अवस्था में सो गए. सीमा मेरी अंतरंग सहेली भी थी और एक अच्छी दोस्त भी. मैं उसे कभी दीदी कहती कभी भाभी कभी नाम लेकर भी पुकारती वह हर स्थिति में मुझसे खुश रहती थी और हर हाल में मेरी खुशी चाहती थी.
अपने रूम में वह मेरे लिए उचित जगह की तलाश में थी जहां से मैं उसके और मानस के संभोग को देख सकूं. आखिरकार कमरे में बने ड्रेसिंग एरिया में उसने एक जगह खोज ली. उसने मुझसे कहा तुम यहीं पर छुप जाना और यहां से तुम हम दोनों का संभोग देख सकती हो पर ध्यान रहे मानस तुम्हारा भाई है यह तुम्हें निर्णय लेना है कि उसे मेरे साथ नग्न होकर संभोग करते हुए देखना तुम्हें अच्छा लगेगा या नहीं. मैंने उसे फिर चूम लिया एक बार फिर सीमा के संबोधन ने मेरी राजकुमारी को मुस्कुराने पर मजबूर कर दिया था मैं स्वयं शरमा रही थी. दो-तीन दिनों बाद मानस वापस आ चुके थे.
मेरे मन में नयी उम्मीद जाग चुकी थी।
Reply
04-11-2022, 02:16 PM,
#35
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग -16
अविश्वसनीय ननद
[मैं सीमा]

सम्भोग दर्शन

शनिवार को हम तीनों की ऑफिस की छुट्टियां थीं. सीमा ने आज शाम को ही मेरे लिए संभोग दर्शन की व्यवस्था की थी. रात को संभोग से कुछ देर पहले ही उसने मानस को किचन में कॉफी बनाने के लिए भेज दिया और इसी दौरान मुझे ड्रेसिंग एरिया में आकर छुप जाने के लिए कहा. कुछ ही देर में मानस दो कप कॉफी लेकर आ चुके थे . वह दोनों कॉफी पीते पीते मेरे ही बारे में बात कर रहे थे. सीमा ने कहा
"शादी के दिन छाया कितनी खूबसूरत लग रही थी. मैंने अपने गांव के कई लड़कों और चचेरे भाइयों को उसके बारे में कामुक बातें करते हुए सुना था मुझे लगता है वह विवाह योग्य हो चुकी है" मानस ने कहा " हां, हमें छाया की शादी कर देनी चाहिए."
"हां सच में वह भी अब जवान हो गई उसका भी मन करता होगा."
"हां यह तो शरीर की स्वाभाविक जरूरत है. तुम भी अपने ऑफिस में कोई लड़का देखो"
सीमा ने कहा “हां मैं भी देखूंगी.”
उन दोनों की काफी खत्म हो चुकी थी. कुछ ही देर में मानस और सीमा ने एक दुसरे के कपड़े उतारने शुरू कर दिए. मानस को नग्न देखकर मेरी राजकुमारी एक बार फिर प्रेम रस से भीगने लगी. मानस के नग्न शरीर से मैंने जितना संपर्क बनाया था और उसके आगोश में जितनी रातें गुजारी थी अभी सीमा के लिए दूर की बात थी. पर आज नियति के खेल ने मेरी जगह सीमा को रख दिया था. मानस अनभिज्ञ होकर सीमा के स्तनों से खेल रहे थे और उसकी जांघों के बीच आकर अपने राजकुमार को उसकी रानी के मुख और होठों के बीच में रगड़ रहे थे. सीमा खुद इस तरह लेटी थी जिससे मुझे उसकी रानी स्पष्ट दिखाई पड़े. यह दृश्य मेरी राजकुमारी के लिए असहनीय हो रहा था कुछ ही देर में राजकुमार रानी के अंदर प्रवेश कर गया. सीमा को पता था मैं यह सब देख रही हूं वह मुझे और उत्तेजित करने के लिए आह…. की आवाज निकाली. मानस ने अपनी कमर हिलाना शुरू कर दिया था और सीमा मानस को अपनी तरफ खींच रही थी. उनकी सम्भोग क्रिया तेजी से आगे बढ़ रही थी. सीमा अपनी कला का प्रदर्शन मेरे सामने खुश होकर कर रही थी. उसे मुझे संभोग दर्शन कराने में एक अलग आनंद मिल रहा था. कुछ ही देर में सीमा डॉगी स्टाइल में आ चुकी थी. मानस उसकी कमर को पकड़ कर पीछे से धक्के लगा रहे थे. मेरी आखों के सामने एक जीती जागती ब्लू फिल्म चल रही थी. मेरे हाथ अपनी राजकुमारी को सहला रहे थे. इससे पहले मानस और सीमा स्खलित होते मैं यह दृश्य देख कर अपने विवाह की कल्पना और कामना करने लगी.
कुछ ही समय पश्चात मानस और सीमा स्खलित हो गए. सीमा के स्तन भी मानस के प्रेम रस से सन गए थे। सीमा ने जानबूझकर मानस को फिर किचन में कॉफी का कप रखने के लिए भेजा और मैं कमरे से बाहर निकल गइ.
अगले दिन सीमा ने मुझे अपनी बांहों में भरते हुए मेरा अनुभव पूछा. मैं चटखारे लेकर अपने अनुभव को उसे बतायी. वह बहुत खुश थी कि उसने अपनी सहेली को संभोग सुख के साक्षात दर्शन कराए थे. पर मैं कहां संतुष्ट होने वाली थी मैंने उससे कहा मुझे राजकुमार को छूना है. मैंने आज तक किसी पुरुष का लिंग अपने हाथों से नहीं छुआ. वह हंस रही थी. उसने मुझसे कहा
“ पगली वो तुम्हारा भाई है सगा ना सही सौतेला है. तुम उसका लिंग अपने हाथों में लोगी क्या तुम्हें शर्म नहीं आएगी?”
मैंने उससे कहा
“जब उसे पता चलेगा तब ना मुझे तो उसे छूकर एहसास करना है.”
उसे मेरी इन सब बातों में बहुत मजा आता था उसने कहा ठीक है. रविवार को रात को उसने मुझे फिर उसी तरह छुपा दिया और सेक्स के दौरान मानस की आंखों पर पट्टी बाँध दी. मानस की आंखों पर पट्टी बजे होने की वजह से वो हमें देख नहीं पा रहे थे. छाया ने मुझे अपने पास बुला लिया. बिस्तर पर अब मैं और सीमा दोनों थे. मानस नग्न अवस्था में बिस्तर पर लेटे हुए थे. सीमा ने मुझे इशारा किया और मैंने मानस का लिंग अपने हाथों में ले लिया. मानस के चेहरे पर एक अजब सा भाव आया. वह मेरे हाथों की अनुभूति पहचानते थे पर वह यह यकीन नहीं कर सकते थे की सीमा की उपस्थिति में मैं यह कर सकती हूँ. वह आंखें बंद किए हुए इसका आनंद ले रहे थे. मैंने उनके लिंग को अपरिचित की भांति छूकर महसूस कर रही थी. सीमा मेरे चेहरे को देख कर हंस रही थी. और आंखों से ही प्रश्न कर रही थी कि मुझे कैसा महसूस हो रहा है?
मैं बड़ी उत्सुकता से राजकुमार को आगे पीछे कर रही थी. लिंग में तनाव बढ़ चुका था और वह उछल रहा था. मानस के राजकुमार की यह उछाल मैंने कई वर्षों तक महसूस की थी. कुछ ही देर में मैंने अपने हाथ उनके राजकुमार से हटा लिए. सीमा ने उसी स्थिति में मानस के राजकुमार पर अपनी रानी को रख दिया और कुछ ही देर में राजकुमार रानी में विलुप्त हो गया. इतने करीब से सीमा को सम्भोग करते देख मेरी राजकुमारी पानी पानी हो रही थी. सीमा की कमर के ऊपर जाते ही कुछ देर के लिए राजकुमार दिखाई पड़ता और फिर रानी में विलुप्त हो जाता. सीमा मेरे सामने ही सम्भोग कर रही थी और मैं उसके बगल में खड़ी थी. यह एक अद्भुत दृश्य था. मैं वहां से हट कर वापिस जाने लगी पर सीमा ने मेरा हाथ पकड़ लिया. जीवंत संभोग को इतने करीब से देख कर मेरे मन में अभूतपूर्व वासना का संचार हुआ था मैं उत्तेजना से कांप रही थी. मेरी उत्तेजना को शांत करने वाले मेरे दोनों ही साथी मुझे छोड़ आपस में संभोग कर रहे थे मैं तरस रही थी. उन दोनों की खुशी को देख कर मैं मन ही मन खुश भी थी. एक न एक दिन यह सुख मुझे भी प्राप्त होना था. मैं ईश्वर से इसके लिए प्रार्थना भी कर रही थी मेरा कौमार्य भेदन भी मानस भैया के राजकुमार द्वारा ही हो पर शायद यह असंभव था हम दोनों ही वचनबद्ध थे. मानस भैया के लिंग से वीर्य वर्षा होते ही मेरा साक्षात दर्शन खत्म हो चुका था. मैं सधे हुए कदमों से धीरे-धीरे चलते हुए कमरे से बाहर आ गयी दरवाजा मैंने सटा दिया था.
सीमा ने मुझे बाद में यह बताया कि मेरी उपस्थिति में उसे संभोग करने में एक अलग किस्म का मजा आता है. वह चाहती थी कि काश मैं हमेशा उस समय उसके पास ही रहती.
अगले दिन मानस मेरे पास किचन में आए मैं चाय बना रही थी उन्होंने पूछा "छाया क्या तुम कल मेरे कमरे में आई थी?"
"मैंने कहा कब"
"जब मैं और सीमा साथ थे" वो खुलकर नहीं बोल रहे थे.
"नहीं"
"सच बताओ ना"
"क्यों क्या हो गया?"
"कल अचानक मुझे महसूस हुआ कि तुम्हारे हाथों ने राजकुमार को छुआ था" मैंने कहा
"अब आप मुझे भूलकर सीमा दीदी में मन लगाइए" और हंसने लगी. वह देखिये मेरी भाभी की उमर लंबी है... सीमा कमरे से निकलकर किचन में आ रही थी.
मानस भैया डाइनिंग टेबल पर बैठकर चाय पीते हुए अपनी दोनों परियों को एक साथ देख रहे थे उनके मन में उठे कई प्रश्न अधूरे थे पर मुझे उनका उत्तर देना अभी आवश्यक नहीं लग रहा था. उनके इंतजार में ही हम सबकी भलाई थी.
एक दिन मानस की आंखों पर पट्टी बांधकर फिर सीमा ने मुझे अपने पास बुला लिया मैं मानस का लिंग सहला रही थी तभी उसने मेरे घागरे का नाड़ा खोल दिया मैं पूरी तरह नग्न हो चुकी थी. कुछ ही देर में उसने मेरा टॉप भी हटा दिया. अब हम दोनों पूरी तरह नंगे थे. सीमा मेरी राजकुमारी को छू रही थी और मैं मानस के लिंग को अपने हाथों से खिला रही थी. मुझे मानस के लिंग को हिलाते देखकर उसके मन में एक अजीब किस्म की खुशी आती थी. उसने मुझसे चुप रहने के लिए कहा और मानस के हाथ लाकर मेरी राजकुमारी पर रख दिए. मानस की उंगलियां मेरी राजकुमारी को बहुत अच्छे से पहचानती थीं. मानस जान चुके थे उन्होंने सीमा से कहा
“अरे तुम्हारी रानी तो आज अलग ही लग रही है”
“हां मैंने इसे विशेष रूप से तैयार किया है” सीमा अभी मानस के मनोदशा से अनभिज्ञ थी
सीमा को इस खेल में मजा आ रहा था. उसने मुझे झुकने का इशारा किया और मानस के हाथ मेरे स्तनों पर रख दिए. मानस पूरी तरह जान चुके थे कि मैं वहीं पर पूर्ण नग्न अवस्था में थी. उन्होंने मुझे अपने पास खींच लिया. मैं पूर्ण नग्न अवस्था में मानस भैया के ऊपर आ चुकी उनके एक हाथ मेरी पीठ पर और दूसरा नितंबों पर आ गया. सीमा हतप्रभ थी.उसे समझ में नहीं आ रहा था कि वह क्या करें. मानस भैया लगातार मुझे सहला रहे थे कुछ ही सेकंड में उसने स्वयं मानस की आंखों पर से पट्टी हटा दी. शायद वह डर गई थी की थोड़ी ही देर में मानस भैया का राजकुमार मेरी राजकुमारी का कौमार्य भेदन कर देता और वह इस अनचाही घटना की जिम्मेदार होती। सीमा सिर झुका कर खड़ी हो गई । वह अबोध नवबधु की तरह नग्न अवस्था में सिर झुकाए खड़ी थी और अपराध बोध से ग्रस्त थी.
उसे मानस मिलने वाले डांट की प्रतीक्षा थी. उसने स्वयं की उत्तेजना के लिए कुछ ऐसा कर दिया था जो उसकी नजर में एक असीम गुनाह था. उसकी आंखों में थोड़े आंसू भी थे. वह डर से कांप रही थी मानस भैया के चेहरे पर मुस्कान थी. मैं भी मुस्कुरा रही थी.
अचानक ही मानस ने हाथ बढ़ाकर सीमा को अपने पास खींच लिया. मानस भैया की एक तरफ मैं और दूसरी तरफ से वह आ चुकी थी. हम तीनों नग्न अवस्था में बिस्तर पर एक साथ थे. वह सीमा के आंसू पूछ रहे थे और अपने होठों से उसके गालो और होठों को चूम रहे थे. सीमा सुबक कर रही थी. मानस के प्यार से वह धीरे-धीरे सामान्य हो रही थी. उसमे थोड़ी हिम्मत आ गई थी. सीमा सुबकते हुए बोली
"मुझे माफ कर.……." वह कुछ बोल पाती इससे पहले हम दोनों हंस पड़े. सीमा आश्चर्यचकित होकर हमें देख रही थी. मानस ने उसे उठाकर हम दोनों के बीच में कर दिया. हम दोनों सीमा के गालों को चूम रहे थे. मानस ने सारी बातें एक ही बार में उसे बता दी. सीमा मेरी तरफ मुड़ी और मेरे काम खींचते हुए बोली
"तू तो मेरी पक्की सहेली थी. कम से कम तू तो बता देती. मैंने उसे होठों पर चूम लिया मानस का राजकुमार अपनी रानी को खोजता हुआ उसमें प्रवेश कर चुका था. हमारा अद्भुत मिलन गंगा जमुना और सरस्वती की भांति हो चुका था सरस्वती जिस तरह विलुप्त है मेरी खुशियों में भी अभी ग्रहण लगा हुआ था. मैं अभी भी संभोग सुख से वंचित थी पर हम तीनों के मिलन का आनंद एक नई उपलब्धि थी.
सीमा को यकीन ही नहीं हो रहा था कि हम दोनों पिछले तीन-चार वर्षो से यह कार्य साथ में करते आ रहे हैं. उसने मेरा कौमार्य देखा था और उसके लिए यह यकीन करना संभव नहीं हो पा रहा था कि इतने दिनों तक साथ में रहने के बाद मेरा कौमार्य किस तरह सुरक्षित था.
सीमा हम दोनों के बीच में थी मानस की कमर हिलाने की वजह से उसका शरीर धीरे-धीरे एक लय में हिल रहा था. मैं उसके स्तनों को प्यार से सहला रही थी. वह मंद मंद मुस्कुराते हुए आने वाले जीवन की कल्पना कर रही थी. निश्चय ही उसकी इस कल्पना में मेरा भी स्थान था.
Reply
04-11-2022, 02:16 PM,
#36
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग -17

त्रिकोणीय प्रेम
(मैं मानस)

सीमा ने छाया को अपने साथ लाकर हम तीनों की जिंदगी में एक नया रोमांच पैदा कर दिया था माया आंटी इस समय घर पर अकेली ही रहती थी. शर्मा जी अभी भी विदेश से नहीं लौटे थे. आंटी के लिए उनकी अनुपस्थिति खलती तो जरूर थी पर यह नियत का ही खेल था.
घर पर हम चार लोग आनंद पूर्वक रह रहे थे. सीमा के आ जाने से छाया का मेरे कमरे में आना जाना सामान्य बात हो गई थी कभी-कभी तो रात को माया आंटी भी कमरे में आ जाती हम सब गांव की बातें करते और पुराने दिनों को याद करते. जाते वक्त वो छाया को अपने साथ चलने के लिए कहतीं ताकि मुझे और सीमा को निजी पल मिल सकें. छाया उनके साथ चली तो जरूर जाती कुछ ही देर में वह वापस हमारे कमरे में आ जाती.
मेरे सेक्स जीवन में एक नया रोमांच पैदा हो चुका था बिस्तर पर हम तीनों बिना वस्त्रों के पूर्णतया नग्न होकर एक दूसरे के आगोश में लिपटे होते. छाया अभी तक कुंवारी थी और इसीलिए हम सबकी प्यारी थी. हम सब तो संभोग का सुख ले रहे थे पर छाया इस सुख सुख से वंचित थी. हम दोनों उसका विशेष ध्यान रखते थे . सबसे विषम स्थिति छाया की थी वह सीमा को कभी दीदी बोलती कभी भाभी मेरे लिए भी उसके संबोधन अब अलग-अलग प्रकार के होते थे. सामान्यतयः हो मुझे नाम से नहीं बुलाती थी पर कभी-कभी उसे मुझे मानस भैया बोलना ही पड़ता था. खासकर सीमा के आने के बाद. जब से हमारे प्रेम प्रसंग पर माया आंटी ने विराम लगाया था मैं उसके लिए मानस भैया बन चुका था. पर यह हम दोनों में से किसी को यह स्वीकार्य नहीं था. लेकिन वह सभी के सामने मुझे मानस भैया ही बोलते थी. और इसी कारण कभी-कभी वह अंतरंग पलों में भी मुझे मानस भैया बोलती थी.
मैं हंस पड़ता और वह भी शर्मा जाती. हम तीनों बिस्तर पर वह सारे कार्य करते हैं जो एक पुरुष और 2 स्त्रियां मिलकर कर सकते थे. छाया के पास वह सारे गुण थे जो उसे मेरी और सीमा की चहेती बनाए रखते. अब तो उसने सीमा को अपने निकट में ही संभोग करते हुए भी देख लिया था. ब्लू फिल्मों में दिखाये गये सारे आसान और गतिविधियां अब हमारे जीवन में आ चुकीं थी. दोनों ही युवतियां शारीरिक शारीरिक रूप से दक्ष थी. उनके शरीर लचीले थे. वह मेरे ऊपर तरह-तरह के प्रयोग करती और मुझे थका देतीं. प्रेम कीड़ा का अद्भुत आनंद आता था. छाया के दाहिने स्तन पर मेरा कब्जा हुआ करता था और बाएं स्तन पर सीमा का हम दोनों उसे गालों से चूमना शुरु करते हैं और उसकी गर्दन होते हुए उसके स्तनों तक आ जाते. उसके स्तनों को अपने मुंह में चुभलाते हुए हमारे हाथ उसकी नाभि के दोनों तरफ से नीचे जा रहे होते. हमारे हाथ धीरे-धीरे उसकी जांघों तक पहुंच जाते. उन्हें फैलाते हुए उसकी राजकुमारी के दोनों होठों पर हम दोनों का अधिकार होता. उसकी राजकुमारी के होठों को चुमते समय हमारे होंठ आपस में मिल जाते. सीमा और मुझमे यही होड़ लग जाती कि छाया को पहले कौन खुश कर दें. छाया हम दोनों के सिर पर हाथ फिराती रहती. कुछ ही देर में उसकी जांघों में बेचैनी बढ़ जाती. हम स्थिति समझ जाते और अंततः राजकुमारी को सीमा के हवाले कर मैं उठकर ऊपर की तरफ आ जाता और वापस दोनों स्तनों को अपने कब्जे में ले लेता. हम पहले छाया को स्खलित करते इस क्रिया में हम दोनो स्वयम उत्तेजित हो जाते. कुछ ही समय में मैं सीमा की जांघों के बीच उसकी रानी में अपने राजा को प्रवेश करा रहा होता और छाया सीमा के स्तनों को मुंह में लेकर प्यार से चूस रही होती.
कई बार छाया अपनी राजकुमारी को सीमा के मुख पर रख देती थी और मेरी तरफ चेहरा करके मुझसे सटी रहती थी. मैं सीमा का योनि मर्दन कर रहा होता और साथ ही साथ छाया के दोनों स्तनों को भी सहला रहा होता. कभी मेरे हाथ में छाया के स्तन पर होते कभी सीमा के. सीमा छाया की राजकुमारी को अपने होठों से चूस रही होती. यह अवस्था हम तीनों की पसंदीदा थी. इस अवस्था में हम तीनों कई बार एक साथ स्खलित होते थे. उस समय मेरे वीर्य की धार अब दोनों अप्सराओं को एक साथ भिगोती. मैं अपने वीर्य को दोनों के स्तनों पर मलता और मेरे कहने से पहले ही वह दोनों अपने स्तन एक दूसरे से रगड़ने लगतीं और मैं उनके नितंबों को सहलाने लगता. अंत में हम तीनों एक दूसरे की तरफ देखते हुए मुस्कुराते और एक दूसरे के आलिंगन में आकर सो जाते. छाया को सुबह माया आंटी के उठने से पहले कमरे से बाहर जाना होता. सामान्यतः छाया हमारे खेल की समाप्ति के बाद ही अपने कमरे में चली जाती. हम दोनों उसकी कमी महसूस करते हुए और उसके बारे में बात करते हुए सो जाते.

हम तीनों तरह-तरह के प्रयोग करते हुए अपना सुखद वैवाहिक जीवन जी रहे थे. हमें हर पल छाया के लिए एक उचित वर की तलाश थी जिससे उसे भी संभोग का सुख मिल सके. नए आसनों के प्रयोग में एक बार दुर्घटना होते होते बची. छाया सीमा के ऊपर थी उन दोनों के स्तन एक दूसरे से टकरा रहे थे और दोनों एक दुसरे को चूम रहीं थीं. मैं बाथरूम से निकलकर बाहर आया मुझे यह दृश्य अद्भुत लगा दोनों की जांघे आपस में सटी हुई थीं. मुझे 2 राजकुमारियां एक दूसरे से सटी हुई प्रतीत हो रही थी. ऐसा लग रहा था एक गुलाबी गुलाब की कली और लाल गुलाबी कली को आपस में सटा कर रख दिया गया था. इतना मोहक दृश्य मैंने पहले कभी नहीं देखा था. नीचे लेटी सीमा की जांघें फैली हुई थीं. उसकी रानी स्पष्ट रूप से दिखाई दे रही थी. मैं अपने आप को रोक नहीं पाया और तुरंत ही जाकर अपने राजकुमार को सीमा की रानी में प्रवेश करा दिया और छाया की राजकुमारी को अपने हाथों से सहलाने लगा. वह दोनों मुस्कुरा रहीं थीं. उन दोनों के स्तन अभी भी एक दूसरे से सटे हुए थे और दोनों आलिंगन में थी. मेरी उंगलियां छाया की राजकुमारी के होठों को फैलातीं और उसके मुख में गुदगुदी करतीं. मैंने सीमा की रानी से अपने राजकुमार को निकाला और अपने तनाव की वजह से वह बिना कुछ कहे हैं छाया की योनि के मुख पर आ गया. उत्तेजना बस मेरे राजकुमार का तनाव राजकुमारी के मुख पर स्वभाविक रूप से हो गया. कामोत्तेजना के उद्वेग में राजकुमार छाया की राजकुमारी की कौमार्य झिल्ली तक पहुंच गया था. छाया राजकुमार के इस अप्रत्याशित आगमन की प्रतीक्षा में नहीं थी वह चौक गयी. और झटके से सीमा के ऊपर से हटकर बिस्तर पर आ गयी और मेरी तरफ देखने लगी. मुझे अपराध बोध हुआ और मैं हंस पड़ा. मैंने सिर्फ इतना कहा
“यह स्वयं ही वहां कूदकर चला गया” वह दोनों हंस पड़े. छाया उठकर मेरे राजकुमार के पास आयी जैसे उसे दंड देने जा रही थी. राजकुमार के पास आकर उसने उसे अपने मुंह में ले लिया और उसे कुछ देर चूस कर उसे सीमा की रानी में वापस प्रविष्ट करा दिया. वह मुस्कुरा रही थी और मैं भी. अगले कुछ महीने तक छाया हमारे लिए इश्वर का वरदान थी.
माया आंटी को अभी तक हमारे इस त्रिकोणीय प्रेम के बारे में कोई जानकारी नहीं थी और हम सब प्रसन्न थे.
छाया का नया जीवन

नयी नौकरी.
[मैं छाया]
मैं अपनी नई नौकरी ज्वाइन कर चुकी थी. मेरा ऑफिस घर से कुछ दूरी पर था. ऑफिस की गाड़ी मुझे लेने आती और ऑफिस खत्म होने के बाद घर छोड़ जाती. मेरी जिंदगी में यह एक नया अनुभव हो रहा था. ऑफिस के बाकी दोस्तों से मिलकर मुझे बहुत अच्छा लगता. हम सब दिन भर अपने बारे में एक दूसरे से बातें किया करते. ऑफिस में अधिकतर पुरुष थे और कुछ महिलाएं थी. मेरे पक्की सहेली पल्लवी भी इसी कंपनी में थी. हमारे दिन बड़े अच्छे से बीतने लगे. घर पर मानस और सीमा के साथ मेरी रातें रंगीन थीं ही दिन भी अच्छे से कट जा रहा था. सारे सुख मिल गए थे एक ही कमी थी वो सम्भोगसुख.
2 महीने की ट्रेनिंग के बाद हमें हमारे डिपार्टमेंट में शिफ्ट किया गया मेरे नए बॉस मिस्टर एस के मल्होत्रा थे उनकी उम्र लगभग मानस के जैसी होगी. वह अत्यंत सुंदर और आकर्षक व्यक्तित्व के थे. वह हष्ट पुष्ट भी थे. वह हमेशा सख्त स्वभाव के लगते थे हम लोग उनके पास मिलने गए पर जितने कठोर वो दिखते थे उतनी ही नम्रता से हम सब से मिले.

कुछ ही दिनों में हम सब अपने कार्य में व्यस्त हो गए. मल्होत्रा जी मुझसे हमेशा अच्छे से बात करते थे. डिपार्टमेंट के बाकी लोग उनसे डरते थे परंतु मुझे उन से डर नहीं लगता था. मैं अपने कार्य में दक्ष थी और इस बात को वह पूरी तरह पसंद करते थे. कुछ ही दिनों में वह मेरे अच्छे दोस्त बन गए थे. वह मुझे हर बात में गाइड करते और मेरे कार्यों से खुश रहते थे. कभी-कभी वह मेरे निजी जीवन के बारे में भी पूछते. मैं उन्हें उचित दूरी बनाकर अपने बारे में बताती. बातों ही बातों में मुझे यह भी मालूम चला कि वह शादीशुदा नहीं थे. घर पर हमेशा मानस और सीमा मुझे शादी के लिए प्रेरित करते रहते थे वह दोनों भी मेरे लिए कोई अच्छा लड़का देख रहे थे मुझे मल्होत्रा जी धीरे-धीरे अच्छे लगने लगे थे परंतु मैं यही प्रतीक्षा कर थी कि वह खुद ही प्रपोज करें पर ऐसा नहीं हो रहा था. हम दोनों एक दोस्त की भांति कई महीने तक रहे पर हमारे बीच में हमेशा एक मर्यादा कायम रही..

मैंने सीमा भाभी को मल्होत्रा जी के बारे में बता दिया था. हम दोनों उनके बारे में बातें करते थे. सीमा भाभी उन्हें देखने की जिद करती थी. एक दिन मैंने ऑफिस में उनके साथ एक सेल्फी ली और सीमा भाभी को दिखाया वह देखते ही चौक गई. मैंने पूछा
“क्या हुआ” वह बात टाल गयीं और बोलीं
“अरे यह तो बहुत हैंडसम है. तुम्हें इससे बात आगे बढ़ानी चाहिए “
मुझे सीमा दीदी के विचार जानकर बहुत खुशी हुई.
मैं और मल्होत्रा जी आने वाले समय में और करीब आते गए.
Reply
04-11-2022, 02:17 PM,
#37
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग -18
सीमा और सोमिल
[मैं सीमा]
छाया द्वारा उसके बॉस के साथ फोटो देखकर मेरे होश फाख्ता हो गए. यह तो सोमिल था. सोमिल कुमार मल्होत्रा. वह बेंगलुरु में था यह जानकर मैं अपने आप को उससे मिलने से रोक नहीं पायी. मैंने किशोरावस्था में जीवन के दो-तीन साल उसके साथ गुजारे थे और अब छाया उसके संपर्क में आई थी. मैं सोमिल से मिलने को बेचैन हो उठी. मैंने छाया के ऑफिस से सोमिल का फोन नंबर प्राप्त किया और उसे एक दिन फोन किया
“ सोमिल”
“जी, आप कौन”
“मैं सीमा को जानती हूँ”
“सच. मुझे बताइए ना आप कौन हैं?”

“आप चाहे तो अपनी पुरानी मित्र सीमा से मिल सकते है . कावेरी गार्डन, आज शाम ६.०० बजे.”
“मैं जरूर आउंगा”
मैंने फ़ोन काट दिया.
मैं उस दिन सोमिल से मिलने को लेकर बहुत उत्साहित थी. आज कई वर्षों बाद हम एक दूसरे से मिलने वाले थे. अब मैं शादीशुदा थी परंतु उससे मिलकर अपनी स्थिति को बताना जरूरी था वरना मैं हमेशा इस अपराध बोध में रहती कि मैंने सोमिल के साथ किया वादा नहीं निभाया. यह अलग बात थी कि इसमें मेरी कोई गलती नहीं थी पिछले दो-तीन वर्षों में हमारा संपर्क पूरी तरह टूट गया था और हम चाह कर भी एक दुसरे से संपर्क नही कर पा रहे थे.
मैं शाम को सज धज कर सोमिल से मिलने के लिए निकल रही थी. मैंने जानबूझकर आज साड़ी पहनी थी और माथे पर सिंदूर भी स्पष्ट रूप से लगाया था. मुझे लगा यदि सोमिल मुझे इस स्थिति में देखेगा तो एक बार में ही सारी बातें स्पष्ट हो जाएंगीं और हम आसानी से बात कर पाएंगे वरना हम अपनी पुरानी बातों और किए गए वादों में ही डूबे रहेंगे. मैं तैयार होकर घर से निकल चुकी थी.
पार्क में सोमिल मेरा इंतजार कर रहा था. उसके हाथ में एक फूलों का गुलदस्ता था. मुझे देखते ही वह मेरी तरफ दौड़ पड़ा और बिना कुछ कहे मुझे अपनी बाहों में भर लिया. मैंने भी उसे निराश नहीं किया और हम दोनों एक बार गले मिल गए. अचानक उसने मेरे माथे पर सिंदूर देखा और जिसका मुझे अंदाजा था वही बात हुयी वह एक झटके में ही सारी कहानी समझ गया और उसकी आंखों में आंसू भर आए. उसने मेरी तरफ देख कर कहा
“सीमा में पिछले दो-तीन वर्षों से तुम्हें पागलों की तरह ढूंढ रहा हूं. मैंने भी उसे यही बात बतायी.
“हम लोगों ने भी तुम्हें ढूंढने की बहुत कोशिश की मैं अपने पापा के साथ चंडीगढ़ भी गई परंतु तुमने अपना मकान छोड़ दिया था. आस पड़ोस में पूछने पर भी कोई तुम्हारा पता नहीं बता पा रहा था. मैं क्या करती? मेरे पिता मुझ पर लगातार दबाव बना रहे थे और अंततः मैं तुम्हारे सामने इस स्थिति में खड़ी हूं."
सोमिल पूरी तरह मेरी बात समझ रहा था. मैंने उससे पूछा कि
“तुमने अभी तक शादी नहीं की ? हालांकि यह बात मुझे पता थी पर फिर भी मैंने पूछा."
सोमिल की आंखों में अभी तक आंसू सूखे नहीं थे. उसने कहा
“सीमा मैंने सिर्फ तुमसे प्यार किया है और मैं तुमसे ही शादी करना चाहता था. याद है, मैंने तुम्हारे सामने एक वचन भी दिया था”.
मुझे उसका वजन याद जरूर था पर मैं उसे अपने मुंह से नहीं कहना चाहती थी. मैंने हल्की अनभिज्ञता जताते हुए उससे पूछा
“कौन सा वचन”
वह बोला
“जाने दो”
मैंने फिर उससे पूछा “बताओ ना कौन सा वचन”
उसने फिर से टाल दिया.
अब हम एक पेड़ के छांव के नीचे बने बेंच पर बैठ गए थे. वह मुझ से तरह-तरह की बातें कर रहा था उसने पूछा
“तुम्हारी शादी किससे हुई है? मैंने उसे बताया. वह धीरे-धीरे सामान्य हो रहा था. बातों ही बातों में मैंने उससे उसकी नौकरी के बारे में पूछा. उसने घर से बताया कि वह इस कंपनी में मैनेजर की भूमिका में है. और फिर मैंने उससे पूछा
“क्या पिछले दो-तीन वर्षों में तुम्हारा किसी से संपर्क नहीं हुआ है”
“नहीं सीमा. मैं दिल से तुम्हें ढूंढ रहा था परंतु मेरा सौभाग्य या दुर्भाग्य कि तुम आज मुझसे मिली वह भी इस अवस्था में.”
“मैं मान ही नहीं सकती की पिछले दो-तीन वर्षों में तुम्हारा किसी लड़की से संपर्क ना हुआ हो . तुम तो शुरू से ही डोरे डालने में एक्सपर्ट हो”
वह हंसने लगा उसने कहा
“मुझे जो सुख तुमसे प्राप्त हुए थे वह मेरे लिए मेरी यादों में अपनी जगह बना चुके थे मुझे किसी और को लाने की जरूरत नहीं थी. मैंने तुम्हारे इंतजार में यह समय गुजार लिया था. पर अभी पिछले कुछ दिनों से तुम से मिलती जुलती एक लड़की मेरे ऑफिस में आई है. वह मुझे अच्छी लगने लगी है. तुम्हारे जैसी ही है पर अत्यंत कोमल और मासूम है.
“इसका मतलब मैं कोमल नहीं थी”
“अरे नहीं वह बात नहीं है शरीर की बनावट सबकी अलग-अलग होती है. पर बातचीत करने और बातचीत के अंदाज में तुम दोनों मुझे एक जैसी ही दिखाई देती हो”
मैं समझ गई थी कि वह छाया के बारे में बात कर रहा है. मैंने उससे उस लड़की के बारे में और पूछा. वह कुछ देर छाया के बारे में बात करता रहा फिर बात को वापिस मुझ पर ले आया. मैंने कहा
“तुम उससे मिलकर अपने प्यार का इजहार करो अब तो हमारा मिलना संभव नहीं है”
उसने बोला
“मैं शादी नहीं कर सकता”
“क्यों?”
“बस ऐसे ही”
मैंने जिद की.
“सीमा छोड़ो ना. जो बातें अब संभव नहीं है उनके बारे में क्या बात करना”
“मैं सब संभव कर दूंगी.”
“पक्का” वो हँसने लगा.”
“प्लीज बताओ ना”
उससे कहा
“मैंने चंडीगढ़ में तुम्हारे कहने पर एक तुम्हें एक वचन दिया था और जब तक वह वचन पूरा नहीं होता मैं अपनी पत्नी के साथ न्याय नहीं कर पाऊंगा”
मैं घबरा गई उसके इस बात पर मैं क्या जवाब दूं मैं सोच नहीं पा रही थी. मुझे उसका वचन तो याद था पर फिर भी मैंने दोबारा कहा
“देखो हम दोनों ने विवाह करने की सोची थी उस समय ये बातें ठीक थी पर अब मैं शादीशुदा हूं”
उसने फिर कहा
“शायद तुम उस वचन को भूल गई हो. मेरे बेंगलुरु आने से पहले तुम आशंकित थी कि मैं तुम्हारी अनुपस्थिति में किसी और लड़की के संपर्क में आ जाऊंगा और उससे संभोग कर लूंगा. मैंने तुम्हें बार बार यह बात समझायी कि मैं सिर्फ तुमसे ही प्रेम करता हूं और मैं कभी यह नहीं करूँगा. परंतु तुम मेरी बात नहीं मानी. और तुमने मुझसे वचन लिया या कि मैं अपना पहला संभोग तुम्हारे साथ ही करूंगा. तुम्हारी आशंका को मिटाने के लिए ही मैंने तुम्हें यह वचन दिया था.”
मैं निरुत्तर हो गई थी
“पर अब यह असंभव है. क्या कोई और रास्ता नहीं है”
“मुझे नहीं पता. छाया मुझे अच्छी तो लगती है पर मैं उससे अपने प्यार का इजहार नहीं कर सकता क्योंकि मुझे पता है मैं अपने वचन को पूरा किए बिना उसके साथ न्याय नहीं कर पाऊंगा. देखते हैं नियति ने मेरे भाग्य में क्या लिखा है” वह चुप हो गया था.
लगभग 2 घंटे बीत चुके थे हमने पास के रेस्टोरेंट में जाकर कुछ नाश्ता किया और अब विदा लेने का वक्त था. सोमिल ने कहा फिर कब मुलाकात होगी मैंने भी उसे नियति पर ही छोड़ दिया था. हम दोनों अपने अपने घर की तरफ पर चल पड़े.

परिवारों की सहमति
[मैं सीमा]
छाया के कहने पर एक बार फिर हमारे शयनकक्ष में ब्लू फिल्म लगाइ गई. मैं और छाया दोनों ही पूर्ण नग्न होकर बिस्तर पर मानस का इंतजार कर रहे थे. फिल्म शुरू होते ही वह भी बिस्तर पर आ गए. हम तीनों एक दूसरे से लिपटकर फिल्म देखने लगे. सीडी में एक युवती से दो युवक प्यार कर रहे थे. उनका प्यार जैसे-जैसे परवान चढ़ता गया हम तीनों उत्तेजित होते चले गए. छाया बीच में थी उसके एक तरफ मैं थी और दूसरी तरफ मानस थे. हम दोनों ही उससे बहुत प्यार करते थे और उसे हर सुख देना चाहते थे क्योंकि वह अभी तक संभोग का सुख नहीं ले पायी थी. उसे हमारे होठों और उंगलियों की कला से ही काम चलाना था. इसलिए हम सबसे पहले उसका ही ध्यान रखते थे. वह भी हम दोनों का बहुत साथ देती थी. फिल्म में एक महिला को दो पुरुषों से संभोग करते हुए देखकर अचानक मेरे मुंह से निकल गया क्या हकीकत में ऐसा भी होता है. छाया तुरंत बोल पड़ी
“हां दीदी मैंने एक बार सपना भी देखा था.” हम तीनों हंस पड़े मानस ने कुछ नहीं कहा वह चुप ही रहे फिल्म खत्म होने के बाद हम सब सामान्य हो चुके थे .

एक दिन मानस ने मुझसे पूछा उस दिन तुम किसी और पुरुष के साथ संभोग करने की बात कर रही थी. मैंने कहा
“हां. क्या यह सच में संभव होता है?
“आजकल इस दुनिया में सब कुछ संभव है. आजकल लोग अपनी कल्पनाओं को जीते हैं. कुछ को यह मौक़ा मिलता है और कुछ सिर्फ कल्पना में ही यह सोचते रह जाते हैं.”
उन्होंने हंसते हुए कहा
“तुम यदि इस बात के लिए अपना मन बनाती हो तो हो सकता है तुम्हें कभी इसका मौका मिल जाए. पर तुम्हें यह बात मुझे स्पष्ट रूप से बतानी होगी” वो फिर हसने लगे और मेरी रानी पर हाथ फेरने लगे.
मैं कुछ बोल नहीं पायी
“पर मेरे मन में सोमिल का ख्याल आ गया”
मेरे दिमाग में एक योजना बनने लगी. आखिर छाया मेरी ननद थी और मानस की बहन भी उन दोनों की ख़ुशी में मुझे भी खुशी मिलती.
मैंने मानस से एस के मल्होत्रा की हकीकत बता दी और उसके वचन के बारे में भी। वह हंसने लगे मैंने कहा मुझे आपकी अनुमति चाहिए। उन्होंने मजाक किया हां तो वचन पूरा कर देना वह तुम्हारे नंदोई बनने वाले हैं इतना कहकर संभोग क्रिया में मस्त हो गए.
कुछ दिनों बाद मैं फिर एक बार फिर सोमिल से मिली वह बहुत खुश था. हम दोनों ने कई सारी बातें की. मैंने छाया की बात दोबारा छेड़ी तो वह बोल उठा छाया वास्तव में बहुत अच्छी है. मैंने कहा
“तुम उसके परिवार वालों से मिले हो या नहीं?”
“अभी तो नहीं पर वह बार-बार जिद करती है”
“तो एक बार मिल लो”
“पर इन सब मेल मुलाकात का अंत क्या होगा यही सोच कर मैं डर जाता हूँ. मेरे पास उसे देने के लिए कुछ नहीं है. तुमने मुझसे वह वचन लेकर मुझे मझधार में डाल दिया है”
“कोई बात नहीं. हो सकता है मैं तुम्हारा वचन पूरा कर दूं”
“क्या कहा तुमने”
“वही जो तुमने सुना”
“क्या सच में ऐसा संभव है”
“जब तुमने दिल से यह चाहा है तो हो सकता है संभव हो”
“मैं इतना कह कर वहां से उठकर चल दी”
मैनें मुड़कर देखा उसके चेहरे पर आश्चर्यमिश्रित खुशी थी. मैं भी मुस्कुराते घर वापस आ रही थी. रास्ते में टैक्सी को हाथ देती इससे पहले मानस अचानक आ गए उन्होंने मुझसे पूछा
"इधर कहां घूम रही हो"
"सोमिल से मिलने आयी थी."
"ओह…. कर किया वचन पूरा"
" हाँ कर लिया… आप भी ना?" मेरे उत्तर में हां और ना का मिश्रण था जिसे उन्होंने हाँ समझा और वह पूरे रास्ते शांत रहे. मैंने भी इस बारे में कोई बात करना उचित नहीं समझा. मैने मन ही मन सोच लिया कभी ऐसी ही एक छोटी मुलाकात में सोमिल के वचन को भी पूरा कर दूंगी जो इस विवाह की अनिवार्य कड़ी थी.


कुछ दिनों बाद छाया ने बताया कि मल्होत्रा जी शनिवार को हमारे घर आने के लिए तैयार हो गए हैं. हम सब बहुत खुश थे. छाया और मैंने उनके लिए कई पकवान बनाए और घर को भी बहुत अच्छे से सजाया था . मानस बाजार से दो बढ़िया बुके भी ले आए थे. हम सब उनका इंतजार कर रहे थे. आज सोमिल को यह बात पता चलनी थी कि जिस लड़की से वह प्रेम करता है वह मेरी ननंद थी. वह ठीक समय पर घर पर आ गया. दरवाजा मानस ने खोला था. उन्होंने बुके देकर उसका स्वागत किया और अंदर हाल में ले आए. हॉल में मुझे देखकर सोमिल कुछ बोल नहीं पाया वह मुझे एकटक देखता रहा. मैंने सिर्फ मुस्कुरा कर उसका स्वागत किया. माया आंटी को देखकर उसने उनके चरण छुए उनसे आशीर्वाद लिया. मानस ने सोमिल को बैठने के लिए कहा और दूसरा बुके उसके हाथ में दे दिया. उसके दिमाग में ढेरों प्रश्न थे पर वह शांत था.

छाया ने एक बार हम सबका परिचय कराया उसने बताया
“यह मेरी माँ हैं, ये मानस भैया हैं और ये मेरी सीमा भाभी हैं और मैं आपकी जूनियर” कह कर हंसने लगी. धीरे-धीरे हम सब सामान्य हो गए और आपस में बातें करने लगे. सोमिल की निगाहों में अभी भी मुझे लेकर प्रश्न थे. काफी देर रात बातें करने के बाद हम लोगों ने खाना खाया. खाने के पश्चात सोमिल अपने घर की तरफ रवाना हो गया. उसके जाने के बाद मानस बहुत खुश थे मानस ने कहा
“मल्होत्रा जी वास्तव में एक जिम्मेदार व्यक्ति लगते हैं छाया तुम्हारी पसंद बहुत ही अच्छी है. पर क्या वह भी तुम्हें पसंद करते हैं “
“पसंद करते हैं तभी तो हम लोगों से मिलने यहां तक आ गए” मैंने कहा.
मानस और मैं दोनों ही बहुत खुश थे. माया आंटी तो सोमिल को देखकर फूली नहीं समा रहीं थीं. उनका होने वाला दामाद इतना खूबसूरत और काबिल होगा शायद उन्हें इसकी उम्मीद नहीं थी. मल्होत्रा जी को देखकर सभी काफी खुश हो गए थे.

कुछ दिनों बाद मैंने सोमिल से फिर मुलाकात की बातों के दौरान मैंने उसके माता-पिता से मिलने के लिए समय मांगा उसने कहा
“आप लोग अगले शनिवार को हमारे घर पर आ जाइए मैं पापा मम्मी को बता दूंगा”
वह अब शादी के लिए मन बना रहा था.
उसने मुझसे फिर पूछा
“सीमा क्या यह सच में हो पाएगा”
मैंने उससे कहा
“अपने वचन को पूरा करने के बाद तुम कुवारें नहीं रहोगे. मैं तुम्हारे वचन की लाज रखूंगी पर इस बात का ध्यान रखना कि तुम्हारी छाया ने आज तक किसी के साथ संभोग नहीं किया है. और वह अक्षत यौवना है. यदि तुमने अपना पहला संभोग मेरे साथ किया तो तुम्हें उसके साथ किए गए पहले संभोग का सुख नहीं प्राप्त होगा." मैंने उससे यह बात उससे जोर देकर कही थी ताकि वह छाया जैसी सुन्दर , कोमल एवं कुंवारी लड़की के साथ संभोग करने की लालसा में मुझसे संभोग करने की जिद छोड़ दे.
“उसने कहा मैं वचनबद्ध हूं. छाया का कुवांरापन मेरे लिए उतना महत्वपूर्ण नहीं है जितना मेरा वचन.मेरे वचन की उसकी लाज रखना”
मैंने उसे हंसते हुए कहा
“तथास्तु नंदोई जी” वह अपने संबोधन पर हंस पड़ा.
हम सब सोमिल के परिवार वालों से मिलने उसके घर पर आए जाये. सोमिल का घर हमारे घर से थोड़ा दूर था. उसका घर भी बहुत सुंदर था पर छोटा था. उसके माता-पिता के अलावा उसका एक छोटा भाई भी था. हम सभी का भव्य स्वागत किया गया. सोमिल के पिता मुझे पहचानते थे. वह मेरे और सोमिल के संबंधों के बारे में भी कुछ हद तक जानते थे. उन्होंने मुझसे कहा सीमा बिटिया तुम तो बहुत बड़ी हो गई और तुमने शादी कब कर ली.
“पिछले साल ही हुई है. यह मेरे पति मानस हैं यह मेरी ननद छाया है और यह मेरी सास माया जी हैं. छाया ने उठकर सोमिल के माता पिता के पैर छुए. सोमिल की मम्मी ने उसे अपने गले लगा लिया और बोला
“अरे यह कितनी सुंदर है. सोमिल मुझसे बार-बार कहता था पर मुझे यकीन नहीं होता था. आज छाया को देखने के बाद लग रहा है कि सोमिल सच कहता था”
वो छाया से मिलकर बहुत खुश थी. छाया पहली नजर में ही उन्हें पसंद आ गई थी. उसकी इतनी तारीफ सोमिल पहले ही कर चुका था. सिर्फ आंखों से देखना बाकी था . सोमिल के पिता जी ने कहा
“छाया हम लोगों को बहुत पसंद है मुझे लगता है सोमिल और छाया भी एक दूसरे को बहुत पसंद करते हैं. हमें इन दोनों का विवाह कर देना चाहिए.” हम सब भी बहुत खुश हो गए. माया आंटी ने कहा
“सोमिल जैसा दामाद पाकर हम सब भी बहुत खुश हैं” हम सब ने साथ में खाना खाया और विदा लेने की बारी आ गयी. हम लोगों ने सोमिल उनके माता-पिता और उनके छोटे भाई के लिए कई तरह के उपहार ले गए थे. वापस आते समय सोमिल के माता पिता ने अपनी नई बहू और हम सभी के लिए कई सारे उपहार दिए.
सोमिल मुझे जाते हुए देख रहा था और मुस्कुरा रहा था. मैंने शर्म से पलकें झुका लीं और सिर झुकाए हुए आगे चल पड़ी. छाया का विवाह पक्का हो गया था.
Reply
04-11-2022, 02:17 PM,
#38
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग 19
छाया के विवाह की तैयारी
[मैं सीमा]
बेंगलुरु शहर में मोबाइल की उपलब्धता धीरे-धीरे होने लगी थी. हम सब ने भी अपने लिए एक एक मोबाइल खरीद लिया था. मोबाइल पर हम सब की बातें आसान हो चुकी थी. एक दूसरे से मिलना भी अब इतना कठिन नहीं रहा था हम आपस में एक दूसरे से बात करते और कभी कभार मिल लिया करते थे. शादी के दिन धीरे-धीरे करीब आते जा रहे थे. हम सब शादी की तैयारियों में मशगूल थे.
मानस में छाया की शादी की तैयारी में कोई कसर बाकी नहीं रखी थी. उसने गांव के सभी लोगों को न्योता भेजा था. अब जब समाज की नजरों में छाया उसकी बहन हो ही चुकी थी तो वह उसकी शादी बहुत धूमधाम से करना चाहते थे. गांव में उनकी प्रतिष्ठा वैसे ही बनी हुई थी. सभी उनकी तारीफ करते थे कि कैसे उन्होंने छाया को अपनी बहन के रूप में अपना लिया था और उसका जीवन ग्रामीण स्तर से उठाकर उसने उच्च स्तर पर ले आया था. मैं जानती थी कि मानस छाया को बहन नहीं मानता था बल्कि वो उसकी प्रेमिका थी. पर अब तो उसकी शादी थी. हम तीनों हमेशा एक साथ रहते थे. वह हम दोनों की प्यारी थी. वो मेरी छोटी बहन, ननद और कभी कभी सौतन लगती थी. सौतन बोलने पर वह दुखी हो जाती थी. वो कहती
“दीदी मैंने अपने आप को मानस को आपको समर्पित किया है. आप जब चाहेंगी मैं आप दोनों के बीच से हट जाउंगी.”
मैं उसे चुम्बन लेती और बोलती
“तुम हम दोनों के बीच की कड़ी हो. जब तक जीवन हैं तुम हम दोनों की प्यारी रहोगी.” वह खुश हो जाती. छाया बहुत ही अच्छी थी.
हम लोगों ने शादी में अपने सभी दोस्तों और रिश्तेदारों को बुलाया था. पर छाया ने अपनी सहेलियों को बुलाने से साफ मना कर दिया था. उन्हें मानस और उसकी असलियत मालूम थी. छाया यह बात अपनी सहेलियों को नहीं बता सकती थी कि मानस से उसका ब्रेकअप हो गया है. मानस उसका भाई था यह बताना उसके लिए संभव नहीं था. पर उसकी सहेली पल्लवी यह बात जानती थी.

मानस ने एक बहुत बड़ा मैरिज हॉल बुक किया हुआ था. जिसमें गांव से आने वाले सभी लोग रुके हुए थे. गांव की महिलाएं और बच्चे इस भव्य व्यवस्था से बहुत खुश थे. वह इस उत्सव का पूरा आनंद लेते थे. वहां पर सभी के अलग-अलग कमरे बुक थे. खानपान की भी उत्तम व्यवस्था थी. गांव के लोग इन बातों में बहुत खुश थे और मानस की तारीफ करते हुए नहीं थक रहे थे. हम सब भी सुबह-सुबह वही पहुंच जाते और दिन भर उन लोगों के साथ रहते थे. छाया की खूबसूरती गांव वालों के लिए आश्चर्य का विषय थी. मैं भी उतनी ही खूबसूरत थी परंतु छाया की कोमलता उसे मुझसे दो कदम आगे रखती.
मुझे इस बात का कोई मलाल नहीं था मैं छाया से बहुत प्यार करती थी. जब हम दोनों एक साथ होते तो गांव वाले यही कहते आ गई ननद भाभी की जोड़ी . हम दोनों पक्की सहेलियां भी थी. गांव की महिलाएं और लड़कियां छाया को अपने साथ बैठा आशीर्वाद देतीं और अपने अंदाज में उससे सुहागरात और शादी के बाद की बातें करतीं. मैंने एक बार देखा, एक गांव की एक लड़की अपने घुटनों को मोड़कर और घुटने के ऊपर और नीचे के दोनों मांसल भागों को अपनी उंगलियों से सटाकर योनि का आकार बना रही थी और अपनी उंगली को उसमें फंसा कर छाया को सम्भोग के बारे में बता रही थी. छाया भी मुस्कुराते हुए वह सब सुन रही थी. ऐसा लग रहा था जैसे आई आई टी के प्रोफेसर को कोई पाइथागोरस थ्योरम समझा रहा हो...

छाया साक्षात रति थी यह उन्हें नही पता था. उसके चेहरे की मासूमियत उसका सबसे बड़ा हथियार थी. विवाह समारोह में आया हुआ कोई भी व्यक्ति चाहे वह पुरुष हो या महिला या कितना भी कुत्सित विचारों वाला हो वह यह बात सोच नहीं सकता था कि छाया मेरे और मानस के बीच की कड़ी थी. मैं और मानस यह सोच कर ही उत्तेजना से भर जाते थे कि हमारी प्यारी छाया की शादी हो रही है और कुछ ही दिनों मैं वह संभोग सुख का आनंद ले पाएगी.
छाया ने अपनी कामुकता को बड़ी खूबसूरती से जिया था. बहुत कम ही लोग ऐसे होते हैं जिन्हें अपने आसपास में मानस जैसा साथी मिल जाता है और वह उनकी सारी इच्छाओं की पूर्ति करता है. छाया मानस से तीन-चार महीनों के लिए दूर थी पर भगवान ने उसे मुझसे मिला दिया था. मैंने उसकी कामुकता को उस दौरान भी सीचतीं रही. मेरे विवाह के बाद से तो उसे दोहरा मजा मिल रहा था मैं और मानस उसकी हर इच्छा पूरी करते थे.
अब कुछ दिनों बाद उसे संभोग सुख प्राप्त होने वाला था. हम सब बहुत खुश थे. उसने एक दिन मुझसे बातों ही बातों में एक बात बोली
“सीमा दीदी जब तक मेरी शादी नहीं हो जाती पूरे विवाह समारोह में आप अपनी पैंटी नहीं पहनियेगा और मैं भी नहीं पहनूंगी. हम दोनों बीच-बीच में मानस भैया का ख्याल रखते रहेंगे. जब तक वह उत्तेजित रहेंगे तब तक वह दुखी नहीं होंगे”
मैंने उससे कहा
“अरे इसकी फुर्सत कहां मिलेगी.”
“आप सिर्फ मानस भैया को यह बात बता दीजिएगा”
मैने मुस्कुराते हुए कहा
"मैं यह बात सोमिल को भी बता दूंगी”
वह हंसते हुए बोली
“अरे वह एकदम सज्जन है. वह यह सब काम शादी के पहले नहीं करेंगे”
हम दोनों हँसने लगे.
छाया मेरे गले लगते हुए कान में बोली
“आपकी शादी में भी मैंने पैंटी नहीं पहनी थी. मानस भैया सुहाग रात मनाने तक मुझे सहलाते रह गए थे.” वह हसते हंसते भाग गयी. सच में वह बड़ी नटखट थी.
हम सब अपने काम में मशगूल हो गए. छाया ने सच ही कहा था मेरे बताने से पहले ही उसने मानस को बता दिया था. जहां भी मौका मिलता वह मेरे पास आते मेरे घागरे को ऊपर करते मेरी रानी और नितंबों को सहला देते तथा अपने राजकुमार में तनाव भर कर चले जाते. मैं भी कभी-कभी उनके राजकुमार को अपने हाथों में लेकर दबा देती और उनके तनाव को महसूस करती. यह बड़ा आकर्षक लगता था. दिन भर हम एक दूसरे को उत्तेजित करते रहते मुझे पता था वह यही काम छाया के साथ भी कर रहे थे. मुझे यह और भी उत्तेजक लगता है कि छाया की दो-तीन दिनों में शादी है और वह अपने मानस भैया के साथ यह सब काम कर रही है पर छाया की यही मादकता और कामुकता उसका स्वभाव था. हम इसका आनंद ले रहे थे. छाया कभी-कभी मेरे पास भी आती और और मेरी रानी को हाथ लगा कर देखती और बोलती
“दीदी इसको सूखने नहीं देना है”
रात में घर पहुंचते-पहुंचते हम लोग पूरी तरह उत्तेजित रहते और अपने अपने अंदाज में अपना स्खलन करते. कभी कभी छाया विवाह भवन में भी स्खलन करा देती थी.
छाया की राजकुमारी अब राजकुमार को आगोश में लेने के लिए पूरी तरह तैयार हो चुकी थी
Reply
04-11-2022, 02:18 PM,
#39
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग 20
छाया का विवाह
[मैं सीमा]
छाया का विवाह विधि विधान से सम्प्पन हुआ. हल्दी की रस्म में मैंने मुख्य भूमिका निभाई थी. मैंने छाया की राजकुमारी को हल्दी में भिगो दिया था और हल्दी छुड़ाते छुड़ाते उसे स्खलित करा दिया था वह उत्तेजित भी थी और खुश भी. शर्माजी ने कन्यादान दिया. गाव वाले उन्हें मानस का बॉस समझते थे और पितातुल्य मानते थे. हमारे लिए वो माया जी के भावी पति थे.
सुबह विदाई का कार्यक्रम संपन्न हुआ और छाया की विदाई भी हो गई. छाया विवाह मंडप के एक भाग से हटकर दूसरे भाग में चली गई थी. हम लोगों में से किसी को भी विदाई का पता भी नहीं चला. छाया की सुहागरात के लिए मैंने पांच सितारा होटल में कमरा बुक किया हुआ था. सोमिल की माता जी से मैंने पहले ही अनुमति ले ली थी. वह मुझसे बोली
“बेटा तुम सोमिल को भी बचपन से जानती हो और छाया को भी. वह तो तुम्हारी सहेली भी है और ननद भी. तुम दोनों की सुहागरात को जितना यादगार बना सकती हो बनाओ. मैं तो यही कहूंगी की उस दिन यह दोनों उस होटल में अकेले रहें इसकी बजाय तुम और मानस भी एक कमरा लेकर वहीं होटल में ही रहो. इससे उन दोनों को मानसिक बल मिलेगा.” सोमिल की मम्मी की यह बात मुझे पसंद आ गई. विवाह की भागा दौड़ी में मैंने भी मानस के साथ कई दिनों से खुलकर संभोग नहीं किया था मुझे पता था उन्हें इसकी सख्त आवश्यकता थी उनकी छाया भी उसी समय सुहागरात मना रही होगी ऐसे में उनकी वेदना को कम करना आवश्यकत था।
मैं छाया को लेकर ब्यूटी पार्लर चली गई. वह ब्यूटी पार्लर ब्राइडल मेकअप के लिए विख्यात था. वह दुल्हन को उसकी मनोदशा और इच्छा के अनुसार सजाता था. अपने विवाह के समय मुझे इस बात की जानकारी नहीं थी पर मेरी सहेली ने इस बारे में मुझे बताया था. यहां पर लड़कियों के स्तनों और जांघों पर भी मेहंदी से कलाकृति बनाई जाती थी. यह अत्यंत कामुक अनुभव होता होगा ऐसा मैंने सोचा था. मैंने छाया से उसकी राय मांगी उसने कहा चलो कराते हैं. फिर यह दिन बार-बार थोड़ी आएगा हम सब ब्यूटी पार्लर में दाखिल हो गए थे. लड़कियों ने हमारा स्वागत किया और हमारा मेकअप करने ले गई छाया ने मुझसे कहा
“सीमा भाभी आपको भी वैसा ही मेकअप करना पड़ेगा.”
“क्यों मेरी शादी थोड़ी है”
“आप भी करा लीजिए। आज आप मानस भैया के साथ ही रहिएगा. आप इस तरह सज धज कर उनके पास जाएगी तो उन्हें अच्छा लगेगा. जब मैं अपनी सुहागरात मना रही होउंगी उस समय आप मानस के साथ सुहागरात मनाईएगा. मुझे बहुत अच्छा लगेगा और मानस भैया भी खुस हो जाएंगे.” उसकी आँखों में आसूं थे. वो मानस को बहुत प्यार करती थी.
मैं उसकी बात मान गई मुझे उसकी बातों में प्यार भी दिख रहा था और मुझे अंदर ही अंदर हंसी भी आ रही थी. उन लड़कियों ने हम दोनों को अगल-बगल लिटा कर हमारा मेकअप शुरू कर दिया. उन्होंने हम दोनों की जाँघों, नितंबों और स्तनों पर तरह-तरह की कलाकृतियां बनाई जिससे हमारे अंग प्रत्यंग और निखर गए छाया की राजकुमारी के आसपास उन्होंने सजावट कर दी थी. मैंने अपनी राजकुमारी के ठीक ऊपर आई लव यू और एक दिल का निशान बनवा लिया था. हम दोनों एक दूसरे को देख कर खुश हो गए और मेकअप रूम में चले गए.
वहां पर हम दोनों को ब्राइडल मेकअप में तैयार किया गया. छाया की सुहागरात थी इसलिए उसकी सजावट मैंने कुछ ज्यादा करने के लिए कहा. पर हम दोनों को देखने के पश्चात यह कहना मुश्किल था असल में सुहागरात किसकी है. छाया ने सुर्ख लाल रंग की साड़ी पहनी हुई थी और मैंने हल्के हरे रंग की साड़ी पहनी हुई थी.
शाम को लगभग 9:00 बजे हम लोगों ने थोड़ा-थोड़ा खाना खाया और अब वक्त आ चुका था कि छाया और सोमिल को होटल पहुचाया जाए.
कुछ ही देर में हम लोग होटल के लिए निकल चुके थे.
मैं और मानस अलग गाड़ी में थे. छाया और सोमिल एक विशेष रूप से सजी-धजी गाड़ी में थे. मानस बहुत खुश थे वह मुझे बार-बार धन्यवाद देते और कहते
“सीमा इस शादी को संपन्न कराने में तुमने जो किया है मैं उसके लिए तुम्हारा शुक्रगुजार हूं. तुमने छाया और मुझे हमेशा के लिए ऋणी बना दिया” शायद मानस यह जानते थे कि मैंने सोमिल के वचन की लाज रख ली थी.
"छाया की खुशी में ही मेरी खुशी है” मैंने कहा. मैं खिड़की से बाहर देखने लगी.
मैं हमारे संबंधों में आये बदलाव के बारे में सोच रही थी. मुझे छाया से कुछ दिनों पहले हुए वार्तालाप की याद आ रही थी.

एक बार मैंने अंतरंग पलों के दौरान छाया से पूछा था
“सुहागरात के दिन तुम्हें अपना कौमार्य खोने के स्वप्न आते हैं”
“हां कभी-कभी आते हैं”
“तब तो मल्होत्रा जी सपने में आते होंगे ?”
वह मुस्कुराने लगी. मैंने कहा
“बता ना”
“अरे छोड़िए दीदी”
“नहीं नहीं प्लीज बताओ ना. तुम तो मेरी अतरंग सहेली हो मुझसे क्या छुपाना “
“सच कहूं तो अभी भी मानस भैया ही आते हैं”
“क्या?”
“वाह री भैया की प्यारी बहना” कह कर मैंने उसके गाल पर चिकोटी काट ली.
“भगवान करे तेरा सपना सच हो”
“दीदी आप भी मजाक करतीं हैं”
“कई बार सपने सच भी हो जाते हैं “
“सच हो गया तो तो मैं इस धरती की सबसे भाग्यशाली इंसान होउंगी.” यह कह कर वह मुस्कुरा दी थी.

टायरों के चीखने की आवाज से मेरी तन्द्रा भंग हुयी. हम होटल पहुच चुके थे.

हमारी गाड़ी होटल के पोर्च में रुकी. हम सब होटल में रिसेप्शन की तरफ बढ़ रहे थे. हमारे साथ सामान के नाम पर दो ब्रीफकेस थे. एक छाया का और एक ब्रीफकेस में मैंने अपने कुछ कपड़े रख लिए थे. रिसेप्शन पर हमें दो कमरों की चाबी ने दी गई और हम आठवीं मंजिल पर स्थित अपने कमरों की ओर चल पड़े. लिफ्ट में जाते समय हम चार लोग थे पर पूरी शांति थी. दो सजी-धजी नवयौनाए संभोग सुख लेने के लिए होटल के कमरे में जा रहीं थीं। कोई भी एक दूसरे से बात नहीं कर रहा था पर सभी एक दूसरे को देख कर मुस्कुरा रहे थे.
Reply

04-11-2022, 02:18 PM,
#40
RE: XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता
भाग -21
सुहागरात
[मैं सीमा]

मैंने होटल वाले से बोलकर दोनों ही कमरों को सुहागरात के हिसाब से सजाया था. मानस की खुशी के लिए मैंने एक कमरे को उनकी पसंद से सजाया था. लॉबी में चलते हुए सबसे पहले जो कमरा आया उसकी चाबी सोमिल के पास थी सोमिल ने अपने कमरे का दरवाजा खोला और हम सब उसके कमरे में दाखिल हो गए. कमरा अत्यंत सुंदर तरीके से सजाया हुआ था मैंने सोमिल से कहा आप यहां इंतजार कीजिए हम लोग दूसरा कमरा देख कर आते हैं. छाया ने कहा
“मैं भी आती हूं” वह भी हमारे पीछे पीछे आ गई. हम लोगों ने बगल वाला कमरा भी खोला वह कमरा भी वैसे ही सजा हुआ था. छाया आश्चर्यचकित होकर बोली
“अरे आप लोगों ने भी अपना कमरा वैसे ही सजाया है” यह तो बड़ा आनंद दायक है मुझे बहुत खुशी हो रही है. आप लोग भी मुझे याद कर इस घड़ी का आनंद उठाएंगे” यह कहकर वो मुझसे लिपट गई. मैंने उसके कान में कहा
“छाया मेरी बात ध्यान से सुनो. तुम्हें आज सुहागरात इसी कमरे में मनानी है वह भी तुम्हारे मानस भैया के साथ. तुम्हारा सपना पूरा होने जा रहा है. मानस से सिर्फ इतना कहना कि सीमा भाभी वचन निभाने गई है. वह समझ जाएंगे” इतना कहकर मैं उस कमरे से चली आई और दरवाजा बंद कर दिया.

[मैं मानस]
“अरे सीमा कहां चली गई”
“पता नहीं वह अचानक चली गयीं और मुझसे कहा कि आपको बता दूं कि वह अपना वचन निभाने गई है”
“पर आज तो तुम्हारी सुहागरात है.”
“हां पर उन्होंने ऐसा ही कहा है”
सीमा के वचन से मुझे तो सारी परिस्थितियां समझ में आ गई थी. सीमा आज के दिन ही सोमिल का वचन पूरा करेगी यह मुझे उम्मीद कतई नहीं थी. उसने आज छाया की सुहागरात खराब कर दी थी. आज के दिन छाया को सोमिल के साथ होना चाहिए था. तभी छाया मेरे पास आई और मुझसे लिपट गई. छाया ने मुझसे पूछा
“सीमा दीदी किस वचन की बात कर रही थी?”
मैंने उसे सब कुछ बता दिया वह खुश हो गई थी. उसने मुझसे कहा
“सीमा दीदी की आज्ञा है कि मैं आपके साथ ही सुहागरात मनाऊं”
हम दोनों सारी बात समझ चुके थे और सीमा को दिल से धन्यवाद दे रहे थे कि उन्होंने हम दोनों के इस बहुप्रतीक्षित मिलन को इतना शुभ और आसान कर दिया था साथ ही साथ उसने सोमिल के वचन की लाज भी रख कर छाया के आने वाले वैवाहिक जीवन को खुशहाल करने का मार्ग प्रशस्त कर दिया था. दोनों अप्सराएं एक दुसरे के लिए ही बनीं थी. पहले छाया ने सीमा को मुझसे मिलाया और अब सीमा ने मेरी प्रियतमा को इस पावन अवसर पर संभोग के लिए प्रस्तुत कर दिया था।

छाया अब मेरी बाहों में आ चुकी थी. हमारे मन में कोई मलाल नहीं था. छाया का विवाह हो चुका था और अब वह संभोग के लिए तैयार थी. हम दोनों एक दूसरे के होंठों का चुंबन प्रारंभ कर चुके थे.

[मैं छाया]

मानस की बातें सुनने के बाद मैं पूरी तरह तैयार हो चुकी थी. मुझे मानस के साथ अपना सुहागरात मनाने का बहुप्रतीक्षित अवसर आ चुका था. मैं मानस के होठों को लगातार चूमे जा रही थी. मेरा सपना जो एक बार टूट चुका था आज पुनः जीवंत हो उठा था. मानस के चुंबन में आज अधीरता थी. आज मेरे प्यारे राजकुमार और राजकुमारी का पूर्ण मिलन होने वाला था. आज मैं पूरे तन मन से मानस की हो जाना चाहती थी. मेरे शरीर का रोम रोम उन्हें अपने से जोड़ लेना चाहता था. मेरे शरीर के हर अंग को उनका ही इन्तजार था. मेरे स्तनों को उन्होंने ही आकार दिया था. मेरी जाँघों और नितम्बों पर उनकी ही हथेलियों में मालिश की थी. मैं भावविभोर थी. मानस के हाथ धीरे धीरे मेरे घागरे तक पहुंच चुके थे. उन्होंने उसका नाडा धीरे से खोल दिया था. घागरा भारी होने की वजह से तुरंत ही नीचे गिर पड़ा. मैं नीचे से नग्न हो गयी थी. मानस अभी भी मुझे चुमने में व्यस्त थे उनके हाँथ नितम्बों को सहला रहे थे. कुछ ही देर में उन्हें मेरे स्तनों का ख्याल आया. धीरे से चोली ने भी मेरा साथ छोड़ दिया अब मैं उनके सामने नग्न खड़ी थी. शादी में सीमा भाभी ने मेरे लिए कई सारे गहने लिए थे. सिर से पैर तक लगभग हर अंग पर ज्वेलरी के अलावा और कुछ नहीं बचा था. मानस अभी मुझे लगातार चुम्बन दिए जा रहे थे.
[मैं मानस]
मैंने छाया को अपने शरीर से थोड़ा दूर किया ताकि मैं देख सकूं कि वह कैसी दिखाई दे रही है. छाया आज एक अप्सरा की तरह दिखाई पड़ रही थी. उसके शरीर से सारे वस्त्र निकले हुए थे परंतु सीमा द्वारा दी गई ज्वेलरी उसके शरीर पर अभी तक विद्यमान थी और उसे एक अद्भुत खूबसूरती प्रदान कर रही थी. उस समय छाया आदिकाल की कामुक मूर्ति लग रही थी. छाया छाया के आभूषण उसकी सुंदरता में चार चांद लगा रहे थे. उसके स्तनों पर मेहंदी से जो कलाकृति बनाई गई थी वह अत्यंत मादक थी. स्तन उभरकर बाहर आ रहे थे. निप्पलों के आसपास भी मेहंदी की सजावट की गई थी. छाया का कटी प्रदेश और नाभि अत्यंत मोहक लग रहे थे. नाभि प्रदेश के ठीक नीचे उसका कमरबंद दिखाई पड़ रहा था. मैंने और माया आंटी ने उसे बड़ी पसंद से चुना था और आज मैं छाया को उसी कमरबंद में नग्न देखकर अत्यंत खुश हो रहा था. उसके राजकुमारी के चारों तरफ भी सजावट की गई थी. छाया की मांसल जाँघों पर करीने से मेहंदी लगाई गई थी. मैं यकीन नहीं कर पा रहा था की छाया को इस ढंग से किसने सजाया होगा और वह खुद कितना उत्तेजित हुआ होगा. छाया ने नाक की नथ खूबसूरत थी. वह मुझे उसकी सुहागरात की याद दिला रही थी. छाया सिर झुकाए खड़ी थी वह मेरे अगले कदम की प्रतीक्षा कर रही थी. मैंने उसे फिर से अपने आलिंगन में ले लिया और बारी-बारी से उसके आभूषण खोलने लगा. उसकी अंगुलिया मेरे वस्त्रों की साथ खेलने लगी और मैं नग्न होता चला गया. हम दोनों हमेशा की तरह एक दुसरे के आलिंगन में नग्न खड़े थे. उसके माथे का सिन्दूर उसका मंगलसूत्र और नथ जो उसके सुहागरात की निशानी थे मुझे विशेष दिन की याद दिला रहे थे. मैंने उसके माथे पर चुम्बन लिया और उससे बोला
“तुम्हारी इच्छा थी की तुम जिसे चाहती थी वही तुम्हारा कौमार्य भेदन करे. मुझे उम्मीद करता हूं कि तुम खुश होगी”
उसने कुछ कहे बिना मेरे लिंग को अपने दोनों हाथों में ले लिया और बोली.
“मैंने सोते जागते इस दिन का अपने जीवन में पिछले ३ -४ सालों से प्रतीक्षा की है और सीमा दीदी की वजह से मुझे आपके राजकुमार से यह सुख मिलेगा यह मेरा सौभाग्य है.”
यह कहकर वह नीचे झुकी और राजकुमार को चूम ली. मैंने उसे गोद में उठा लिया. उसे इस तरह नंगी होकर मेरी बाहों में आना बहुत अच्छा लगता था. मेरा एक हाथ उसके नितंबों के नीचे था तथा दूसरे हाथ से मैंने उसकी पीठ को सहारा दिया था वह अपना दाहिना हाथ मेरे गर्दन में फसाई हुई थी. उसके स्तन मेरे स्तनों से टकरा रहे थे. इस अवस्था में उसे बहुत अच्छा लगता था वह बार-बार मुझे इसी तरह गोद में लेने के लिए बोलती थी. आज छाया बहुत खुश थी. मेरा राजकुमार बार बार उसके नितंबों से छू रहा था. मैं उसे बेड के साइड में लगे एक बड़े आईने के पास ले गया. वह यह दृश्य देखकर मंत्रमुग्ध हो गई थी. उसने अपने आप को इतना सजे धजे कभी नहीं देखा था और वह भी इस तरह मेरी बाहों में. वह मदमस्त थी मैं उसके गालों पर लगातार चुंबन ले रहा था. उसके माथे पर लगा हुआ सिंदूर जरूर मेरे नाम का नहीं था पर आज वह विवाहिता थी. उसने अपनी राजकुमारी को देखने की लिए अपनी जांघे फैलाई. हम दोनों उसकी सजावट देखकर खुश हो गए. उसने मुझे चूम लिया और कहा
“ आज मैं और मेरी राजकुमारी आप के लिए सजे हैं”
मैं उसे लेकर धीरे-धीरे बिस्तर पर आ गया. श्वेत धवल चादर पर उसका यह सजा धजा गोरा और कोमल बदन मेरी उत्तेजना को ऊंचाइयों तक ले गया. मैंने छाया को बिस्तर पर लिटा दिया उसके सर के नीचे लाल रंग का सुनहरा तकिया रख दिया. उसने अपने दोनों हाथ सिर के नीचे रख लिए. उसने अपनी जांघों को थोडा फैला दिया था. मैंने उसकी जाँघों को थोडा ऊपर उठाने को कोशिश की. वो समझ गयी और अपनी जाँघों को अपने हांथो से ऊपर खीच लिया ठीक वैसे ही जैसे उसने राजकुमारी दर्शन के समय किया था. मैंने आज राजकुमारी के दिव्य रूप के दर्शन कर रहा था उसकी राजकुमारी की सजावट राजकुमारी की खूबसूरती में चार चांद लगा रही थी. छाया मंद मंद मुस्कुरा रही थी. उसकी मुस्कुराहट में अजीब किस्म की मादकता थी. उसने अपने दोनों हाथ मेरी तरफ बढ़ा दिए. मैं अब उसकी जांघों के बीच आ चुका था इस दौरान सीमा की राजकुमारी के होठों पर प्रेम रस की बूंदें छलक आई थी. आज उसे किसी और उत्तेजना की आवश्यकता नहीं थी. छाया के हाथों का बुलावा देखकर मैं उसके आलिंगन में आने को बेताब हो गया और कुछ ही देर में मैं छाया के ऊपर आ चुका था . मेरा सीना छाया के स्तनों से टकरा रहा था और मेरा राजकुमार राजकुमारी के मुख पर दस्तक दे रहा था.
छाया ने दोनों हाथों से मेरे गाल को पकड़ा और बहुत प्यार से बोली
“मानस भैया इस दिन का इंतजार हम लोग कब से कर रहे थे. आज वह दिन आ गया. आज अपनी छाया को की राजकुमारी को रानी बना दीजिए” इतना कहकर उसने मेरे होठों को चूम लिया.
मैंने उसकी नथ उतारी वह मुस्कुरा रही थी.
मैंने भी अपने राजकुमार को उसकी राजकुमारी के मुख पर रखकर अपना दबाव बढ़ा दिया. जैसे ही राजकुमार उसकी कौमार्य झिल्ली से टकराया छाया की कमर में हलचल हुई. मैंने उसके होठों को और तेजी से चूसना शुरू कर दिया इसके पहले कि वह कुछ समझ पाती मैंने एक झटके में उसका कौमार्य भेदन कर दिया. इससे उसे पीड़ा अवश्य हुई यह उसकी आंखों और चेहरे के हाव भाव से स्पष्ट दिखाई पड़ रहा था. उसकी आंखों में आंसू भी आ गए थे पर वह जैसे इन सब के लिए तैयार थी. मैं उसी अवस्था में कुछ देर रुका रहा. वह मुझे लगातार चूम रही थी. मैंने अपने दोनों हाथों से उसके आंसू पोछे और उसके माथे पर चुंबन किया और एक बार फिर अपने राजकुमार का दबाव बढ़ा दिया. राजकुमार अब और गहराइयों में उतर चुका था लिंग का अंतिम भाग भी राजकुमारी में पूरी तरह उतर चुका था. अब इसके आगे जाने की संभावना नहीं थी छाया बेसुध होकर मेरे अगले कदम का इंतजार कर रही थी. उसकी सांसें बहुत तेज चल रही थी.
मैंने इसी अवस्था में उसको सामान्य करने के लिए उसके स्तनों पर हाथ फेरना शुरू किया. स्तनों पर हाथ फेरने और उन्हें सहलाने के बाद छाया को आनंद का अनुभव होने लगा. मैं लगातार चुंबन लेकर उसे खुश कर रहा था. सामान्य होते ही उसने कहा
“आज मेरी राजकुमारी रानी बन गई” यह कह कर उसने मुझे चूम लिया . मैं अब अपनी कमर को धीरे-धीरे आगे पीछे करने लगा और वह इस का आनंद लेने लगी. संभोग का सुख अतुलनीय है छाया यह बात समझ रही थी और इसका आनंद उठा रही थी. उसकी राजकुमारी के कंपन आज अति शीघ्र चालू हो गए. राजकुमार उन कम्पनों के बीच में स्वयं भी उछलने लगा था. मुझे लगा जैसे मैं छाया के अंदर ही स्खलित हो जाऊंगा. मैंने अपने आप को नियंत्रित किया. मेरे संभोग क्रिया के दौरान छाया अब स्खलित होने की कगार पर पहुंच चुकी थी. उसकी राजकुमारी के कंपन बढ़ते जा रहे थे. अचानक उसकी जांघें पूरी तरह फैल गई उसके चेहरे पर एक अजीब किस्म का खिंचाव आ गया. और उसके नाखून मेरी पीठ में गड गए. छाया स्खलित हो रही थी. स्खलित हो रही राजकुमारी में राजकुमार का तेज आवागमन अत्यंत सुख देता है ऐसा अनुभव मुझे सीमा ने बताया था. मैं वही अनुभव छाया को महसूस करना चाहता था. मैंने अपनी पूरी शक्ति से अपने राजकुमार को उसके राजकुमारी के अंदर आगे पीछे करने लगा. तेज गति से राजकुमार के आवागमन के कारण छाया का आनंद बढ़ता जा रहा था. उसके चेहरे पर दिख रहा यह आनंद अद्भुत था. मेरे राजकुमार का भी लावा फूटने वाला था पर मैं किसी भी हालत में छाया को स्खलित किए बिना अपना लावा नहीं छोड़ना चाहता था. अंततः छाया के जाँघों का तनाव कम पड़ते ही मैंने अपने राजकुमार की अंतिम झटका देते हुए राजकुमारी की पूरी गहराइयों तक उतार दिया . गहराइयों में जाने के बाद राजकुमार स्खलित होने लगा. मैंने उसे बाहर निकाल लिया और हमेशा की तरह मेरे वीर्य ने छाया के शरीर को ढक लिया. मैं छाया के बगल में लेट गया और उसे अपने आलिंगन में ले लिया. हम दोनों ही हांफ रहे थे. और एक दूसरे को प्यार से सहला रहे थे.


कुछ देर बाद हमारी सांसे सामान्य हो गयीं. छाया बिस्तर से उठ कर बाथरूम की तरफ जा रही थी. उसने बिस्तर पर लाल निशान देखा उसने मुझे उठाया और वह लाल निशान दिखाया . हम दोनों ही यह समझ गए थे कि यह छाया के कौमार्य भेदन का प्रतीक है. मैंने छाया को उसकी राजकुमारी की तरफ इशारा करके दिखाया. वह भी रक्त से सनी हुई थी पर छाया को साफ साफ नहीं दिखाई पड़ रही थी. मैं छाया को फिर से गोद में लेकर आईने के पास ले गया उसने अपनी जांघें फैलाकर अपनी राजकुमारी को देखा. वह फूली हुई थी और उसके निचले भाग पर रक्त लगा था जो सूख गया था. उसने मुझे गालों पर फिर से चुंबन लिया और मेरे कान में बोली
“थैंक्यू मानस भैया” भैया शब्द पर उसने विशेष जोर दिया और मेरे गाल पर फिर से एक पर चुंबन जड़ दिया.
अब वह मेरी गोद से उतर चुकी थी और बाथरूम की तरफ जा रही थी. उसकी जांघो पर भी रक्त के धब्बे थे जो पीछे से दिखाई पड़ रहे थे.
कुछ ही देर में वह वापस बिस्तर पर आई. मैं भी एक बार बाथरूम में जाकर अपने राजकुमार पर लगे रक्त के धब्बों को साफ कर कर आया. हम दोनों एक दूसरे के आलिंगन में फिर से आ गए. छाया बहुत खुश थी परंतु संतुष्ट नहीं थी. वह संभोग सुख दोबारा लेना चाहती थी. वह मुझे फिर से चूम रही थी कुछ ही देर में मेरा राज कुमार वापिस युद्ध लड़ने के लिए तैयार हो गया था. छाया अब मेरे ऊपर आ चुकी थी इस बार उसने खुद ही मोर्चा संभाल लिया था. अपनी कमर को मेरे राजकुमार के ऊपर व्यवस्थित करने के बाद उसने अपने हाथों में मेरे राजकुमार को पकड़ लिया और अपनी रानी के मुख पर रख दिया. वह अपनी कमर को नीचे करती गई और राजकुमार की रानी में विलुप्त होता चला गया. जैसे-जैसे राजकुमार अंदर की तरफ जा रहा था छाया के चेहरे पर एक अजीब किस्म का नशा दिखाई पड़ रहा था. वह बहुत खुश थी. पूरे राजकुमार को अपने अंदर लेने के बाद वह मुस्कुरा उठी इस कार्य में उसे कुछ दर्द हो रहा था कि नहीं पर वह उसको नजरअंदाज कर रही थी. वह वापिस मेरे चेहरे की तरफ आई और अपने स्तनों को मेरी छाती से रगड़ने लगी मैंने भी उसके सजे हुए स्तनों लो अपने दोनों हाथों में ले लिया और उन्हें सहलाने लगा. छाया की कमर हिलने लगी थी. वह धीरे-धीरे अपनी रानी को आगे पीछे करती और मेरा राजकुमार उसका साथ देता. धीरे-धीरे छाया के कमर की गति बढ़ती जा रही थी वह अद्भुत सुख में थी. मैं उसके नितंबों को लगातार सहला रहा था वह इस आनंद की अनुभूति इस बार और भी अच्छे से कर रही थी. बीच-बीच में मैं उसकी दासी को भी हाथ लगा देता था. जैसे ही मैं उसकी दासी को हाथ लगाता वह मेरी तरफ देखती मुस्कुराती और फिर अपनी रफ्तार बढ़ा देती. उसका इस तरह से मेरे साथ संभोग करना अकल्पनीय सुख दे रहा था. मैंने छाया से हमेशा कुछ नए की उम्मीद की थी और आज वह इतनी रफ्तार में और तरह तरह से अपनी कमर चला रही थी कि मुझे यकीन नहीं हो रहा था. राजकुमार अद्भुत सुख में था एक बार के लिए मुझे लगा की छाया ने जिम की मांग सही की थी इन दिनों उसकी कमर में कसाव आ गया था. कुछ ही समय में मैं उत्तेजना के शीर्ष पर पहुंच गया छाया की धड़कन भी और बढ़ गई थी. कुछ ही देर में मुझे महसूस हुआ जैसे मैं पहले स्खलित हो जाऊंगा. मैंने छाया की उत्तेजना बढ़ाने के लिए उसके निप्पलों को अपने मुंह में ले लिया मैं बारी-बारी से उसके निप्पल चूसने लगा. मेरा फार्मूला काम कर गया और छाया की रानी के कंपन महसूस होने लगे. मैंने भी अपने कमर की गति से रानी को और उत्तेजित करने की कोशिश की. अंततः स्खलित हो रही छाया की कमर हिलनी बंद हो गई. मैंने उसे अपने आगोश में जोर से खींच लिया और अपने कमर की गति और तेज कर दी. छाया काँप रही थी पर मैंने अपनी गति न रोकी. मैंने अपने राजकुमार को रानी के अंदर तक पूरा प्रवेश करा दिया था. मेरा लावा फूटने ही वाला था. मैंने लिंग को बाहर किया. वीर्य किधर जा रहा था यह मुझे होश नहीं था. वह छाया और मेरे पेट के बीच कहीं अपना रास्ता तलाश रहा था. मेरे हाथ छाया के नितंबों और पीठ पर थे वह मुझसे लिपटी हुई थी कुछ ही देर में वह मेरे बगल में आ गयी. और हम एक दूसरे के आगोश में फिर कुछ देर के लिए शांत हो गए

मैंने और छाया ने उस रात चार बार संभोग किया. छाया इस सुहागरात को यादगार बना देना चाहती थी 4 बार संभोग करने के पश्चात वह खुद भी बहुत थक गई थी. राजकुमारी पर एक साथ इतने प्रहार से वह भी आहत हो गई थी. मैंने उसे दिखाया राजकुमारी काफी फूल गई थी और उसके साथ दोबारा संभोग करना उचित नहीं होता. मैंने छाया को अपनी गोद में लेकर सो जाने के लिए कहा वह मान गई पर बोली
“ मानस भैया क्या यह हमारी आखिरी रात है”
मैंने उससे कहा
“ सीमा हैं ना, वो हमें फिर मिलवाएगी”
छाया खुश हो गयी और मेरी गोद में सो गई.


सोमिल के वचन की लाज
सोमिल बिस्तर पर बैठा इंतजार कर रहा था. मैं मानस और छाया को छोड़कर वापस आई
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  बहू नगीना और ससुर कमीना sexstories 139 884,183 09-17-2022, 07:38 PM
Last Post: aamirhydkhan
Lightbulb Behan Sex Kahani मेरी प्यारी दीदी sexstories 46 733,743 09-13-2022, 07:25 PM
Last Post: Ranu
Star non veg story नाना ने बनाया दिवाना sexstories 109 732,610 09-11-2022, 03:34 AM
Last Post: Gandkadeewana
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 23 580,859 09-10-2022, 01:50 PM
Last Post: Gandkadeewana
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 42 417,995 09-10-2022, 01:48 PM
Last Post: Gandkadeewana
Lightbulb Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड desiaks 109 1,312,172 09-10-2022, 01:46 PM
Last Post: Gandkadeewana
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 163 1,666,764 08-28-2022, 06:03 PM
Last Post: aamirhydkhan
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 46 235,714 08-27-2022, 08:42 PM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Indian Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल (माँ-बेटा:-एक सच्ची घटना) desiaks 101 310,650 08-07-2022, 09:26 PM
Last Post: Honnyad
Star Chodan Kahani हवस का नंगा नाच sexstories 36 380,110 07-06-2022, 12:04 PM
Last Post: Burchatu



Users browsing this thread: 6 Guest(s)