XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
03-08-2021, 10:28 AM,
#21
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
उसके चेहरे पर उपहास से भरी मुस्कान उभरी। बोला।
बताओ।” “तुम्हारा पैग आ गया।”

उसने गर्दन घुमाकर देखा। पैग को थामा। अपनी तरफ सरकाया फिर बोला।
“मुझे हैरानी है कि तुम जैसा ढोंगी इस नाइट क्लब में कैसे आ गया।” ।

“तुम्हारे पास रिवॉल्वर है।” जगमोहन बोला।

उसकी आंखें सिकुड़ीं।
तुम्हारे इरादे खतरनाक हैं।” उसका चेहरा कठोर हो गया।

“तुम अपनी पत्नी और बच्चे को मारकर बहुत बड़ी गलती करने जा रहे हो ।”

वो चिहुंक पड़ा।
क्या-क्या बोला तुमने?” उसके होंठों से फटा-फटा सा स्वर निकला।

“तुम फैसला कर चुके हो कि तुम घर जाकर पत्नी और बच्चे को शूट कर दोगे। क्योंकि तुम्हें अपनी पत्नी के चाल-चलन पर शक है। लेकिन सच बात तो ये है कि तुम्हारी पत्नी तुम्हारी वफादार है। वो बच्चा तुम्हारा ही है। तुम वहम के शिकार हो।”

उसकी हालत देखने वाली थी।

“तुम...तुम ये सब कैसे जानते हो कि मैं क्या करने वाला हूँ? मैंने ये बात किसी को नहीं बताई।” ।

“मैं पालकी वाला हूं। लोगों का चेहरा देखकर उनके मन की बात जान लेता हूं कि वो भविष्य में क्या करने वाला है। अगर तुमने अपनी पत्नी और बच्चे को मारा तो अपनी गलती पर बहुत पछताओगे। तुम्हारी सारी उम्र जेल में बीतेगी। जहां तुम पागल हो जाओगे।”

नहीं ।” उसके होंठों से निकला।

ये सच है।” जगमोहन गम्भीर था।

मेरी पत्नी धोखेबाज है।” उसके होंठों से निकला।

वहम है तुम्हारा।”

उसने किसी से दोस्ती कर रखी है वो...।”

वो उसका दोस्त नहीं, भाई बना हुआ है। तुम्हें जलाने के लिए वो ऐसा करती है खुद जबकि वो बहुत अच्छी है। तुम उसे वक्त दिया करो। ब्याह कर लेने का मतलब ये तो नहीं कि औरत को घर में लाकर पटक दो और खुद बाहर रहो। उसका ध्यान कौन रखेगा?”

“तुम सच कह रहे हो कि वो ठीक औरत है?" उसने सूखे होंठों पर जीभ फेरकर कहा।

सौ प्रतिशत ।” “वो बच्चा ...।” “तुम्हारा ही है। तुम ही उसके बाप हो ।”

ओह!” उसने आँखें बंद कर ली । वो परेशान दिखने लगा था।

जगमोहन की गम्भीर निगाह उसके चेहरे पर ही थी।

“संभल जा ।” जगमोहन के कानों में पोतेबाबा का स्वर गुंजा—“आग से मत खेल जग्गू।”

जगमोहन ने इन शब्दों पर जरा भी ध्यान नहीं दिया।
Reply

03-08-2021, 10:28 AM,
#22
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
“जथूरा का खेल जो खराब करता है, वो जिंदा नहीं रहता और जथूरा तेरी जान नहीं लेना चाहता। तेरा एहसान है उस पर। लेकिन वो इस बात को कभी सहन नहीं करेगा कि तू उसके बनाए खेल को खराब करे।”

मैं जथूरा से नहीं डरता।” जगमोहन कह उठा। उस व्यक्ति ने आंखें खोलकर जगमोहन से कहा।

क्या कहा तुमने?” तुमसे नहीं कहा।” तो किससे कहा?” “मेरे आसपास मृत आत्माएं मंडराती रहती हैं। कभी-कभार उनसे बात हो जाती है। ये तुम्हारे काम की बात नहीं है।”

“म...मैं अब क्या करूं?”

अब तो तेरे को खुश हो जाना चाहिए कि तेरी बीवी अच्छी औरत है। बच्चा भी तेरा है। क्या अभी तक तेरा मन साफ नहीं हुआ?” । “हो गया है। मैं...मैं उन्हें नहीं मारूंगा। ओह, मैं कितनी बड़ी भूल करने जा रहा था!” वो दुखी मन से कह उठा।

“घर जा। अपनी दुनिया फिर से शुरू कर। तेरे को हर तरफ | अच्छा ही अच्छा नजर आएगा।”

वो तुरंत स्टूल से उतर गया। भरे गिलास को उसने हाथ भी नहीं लगाया।

“पास में रिवॉल्वर मत रखा कर। वरना कभी तू क्रोध में बहुत बड़ी भूल कर बैठेगा।” “ठ...ठीक है।”

ला रिवॉल्वर मुझे दे।” । उसने बेहिचक रिवॉल्वर निकाली और जगमोहन को थमा दी। जगमोहन ने रिवॉल्वर अपनी जेब में रख ली।।

“जा। अपनी गृहस्थी में रम जा।” जगमोहन ने गम्भीर स्वर में कहा।

वो पलटा और तेजी से बाहर जाने वाले दरवाजे की तरफ बढ़ गया।
जगमोहन ने चैन की लम्बी सांस ली।
इस बार उसने ठीक ढंग से मामला संभाल लिया था।

“तो तूने जथूरा से झगड़ा मोल ले ही लिया जग्गू। मेरे समझाने पर भी नहीं समझा।”

“भाड़ में जा तू और तेरा जथूरा।” जगमोहन ने कहा और स्टूल से उतरकर बाहर की तरफ बढ़ गया।

“अब तू बुरा भुगतेगा।” पोतेबाबा की आवाज पुनः कानों में पड़ी—“जथूरा जान चुका होगा कि तूने क्या गुल खिलाया है।”

जगमोहन पोतेबाबा की किसी भी बात का जवाब नहीं दे रहा था।

Reply
03-08-2021, 10:29 AM,
#23
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
जगमोहन बंगले पर पहुंचा। रात को एक बज रहा था। देवराज चौहान नहीं आया था।

उसने भीतर प्रवेश करके लाइट जलाई और देवराज चौहान को फोन किया।

कहां हो?” बात होते ही जगमोहन ने पूछा।

“मैं दिल्ली में हूं।” देवराज चौहान की आवाज कानों में पड़ी—“एक-दो दिन बाद लौटुंगा ।”
ऐसा क्या काम पड़ गया जो...।”

“आने पर बताऊंगा।” इसके साथ ही उधर से देवराज चौहान ने फोन बंद कर दिया था।
जगमोहन ने रिसीवर वापस रख दिया।

यही सोचा कि किसी काम में व्यस्त हो गया होगा देवराज चौहान।

खैर मन-ही-मन जगमोहन को तसल्ली थी कि उसने दो लोगों को मरने से बचा लिया। मन-ही-मन फैसला किया कि कल बोरीवली जाकर उस फ्लैट में देखेगा कि वहां सब ठीक तो रहा?

डिनर वो ले आया था। सोने से पहले कॉफी पीने का मन था तो वो किचन में जा पहुंचा।

तब जगमोहन कॉफी बना रहा था कि पोतेबाबा की आवाज कानों में पड़ी।
“बहुत खुश हो रहा होगा तू कि जथूरा का काम खराब कर दिया।

“खुश हूं, जथूरा का काम खराब करने के लिए नहीं, बल्कि दो लोगों की जान बचाने के लिए।”

“एक ही बात है, परंतु उन दो लोगों को मरने से बचाकर तेरे को क्या मिला?”

मन की शांति ।”

मन की शांति? जग्गू अब तो जथूरा तेरे जीवन में अशांति पैदा करने जा रहा है।”

मैं तेरी बातों की परवाह नहीं करता।”

“तू परवाह करेगा। बहुत जल्द करेगा। जब तू बर्बाद होने जा रहा होगा, तब तुझे मेरी बातें याद आएंगी।”

“मैं तेरी बातों से डरने वाला नहीं। तू डरपोक है, मैं जानता हूं

अच्छा, जो मैं नहीं जानता मेरे बारे में, वो बात तूने जान ली, हैरानी है।” । ।

“तू हिम्मत वाला होता तो सामने आकर मेरे से बात करता। यूं अदृश्य होकर नहीं ।” ।

इससे समझ गया कि मैं डरपोक हूं?”

“बहुत बड़ा डरपोक ।”
Reply
03-08-2021, 10:29 AM,
#24
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
दो पलों की खामोशी के बाद पोतेबाबा की आवाज पुनः कानों में पड़ी।
“तू शायद मेरी अहमियत को कम आंक रहा है, क्योंकि मैं बार-बार तेरे पास आ रहा हूं।”

जगमोहन चुप रहा।।

“हादसों के देवता महान जथूरा का मैं सबसे खास सेवक, सलाहकार और नजदीकी हूं। ये रुतबा हमारी दुनिया में बहुत बड़ा माना जाता है। राजसी ठाट हैं मेरे। समझ रहा है जग्गू?”

सुन रहा हूं।

” मैं किसी के पास जाऊं, ये बात ही अपने आप में बड़ी बात है।

” फिर तो तेरे को मेरे पास नहीं आना चाहिए था।”

जथूरा ने मना किया था कि किसी और को भेज दे पोतेबाबा। लेकिन मैंने स्वयं तेरे पास आना ठीक समझा।”

“क्यों?”

“क्योंकि तू पहले दर्जे का मक्कार और झूठा है। दूसरा कोई तुझे नहीं संभाल सकता।”

* “तो तूने मुझे संभाल लिया?”

“संभाल ही रहा हूं। बेशक सख्ती ही क्यों न करनी पड़े, तुझे संभाल लूंगा।”

तूने बताया जथूरा हादसों का देवता है?”

“हां। तुम्हारी दुनिया में सब हादसे जथूरा के तैयार किए ही तो होते हैं।”

“तो मेरे लिए जथूरा को एक हादसा तैयार कर देना चाहिए कि जिसमें फंसकर मैं मर जाऊं।”

“यकीनन ऐसा ही किया जाएगा। परंतु जथूरा को तेरा एहसान याद है।” ।

तो?" जगमोहन ने कॉफी का प्याला थामा और किचन के बाहर आ गया।

वो तेरी जान नहीं लेना चाहता।”

फिर तो फंस गया जथूरा।”

उसने कसम नहीं खा रखी। तू न माना तो फिर उसे तेरी जान लेनी पड़ेगी।” ।

जगमोहन ड्राइंग रूम में सोफे पर जा बैठा। चूंट भरा।

जथूरा ने खासतौर से मुझे तेरे पास भेजा है कि तेरे को समझाऊं कि उसके रास्ते में मत आ ।” ।

मैं अपना कर्म कर रहा हूं। किसी के रास्ते में नहीं आ रहा।

” तेरे कर्म हमारे लिए बुरे हैं। मान जा जग्गू।”

मैं तेरी परवाह नहीं करता पोतेबाबा। अच्छा होगा, कि तू दोबारा मेरे पास न आए।”

मैं जथूरा का सेवक हूं। वो कहेगा तो मैं तेरे पास सौ बार आऊंगा।”

जगमोहन ने कॉफी का घूट भरा।।

“तुझे दौलत से बहुत प्यार है है न?”

तो?"

तू कहे तो मैं तेरे को ऐसे कीमती पत्थर ला दूं जिन्हें बेचकर तू दौलत का बहुत बड़ा भंडार खड़ा कर ले ।” |
Reply
03-08-2021, 10:29 AM,
#25
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
“ये सब तू इसलिए कर रहा है कि मेरा दिमाग, भविष्य की घटनाओं को, जो पहले ही देख लेता है, उन्हें मैं रोकने की चेष्टा न करूं। लोगों का बुरा हो जाने दें। खामखाह के एक्सीडेंट में लोगों को मरने दें।”

“हां। तु ठीक समझा।”

‘’ मेरे बारे में तू गलत सोच रहा है। दौलत पाने के लिए मैं इतना भी कमीना नहीं कि...।”

‘’ तू जिस तरह से दौलत इकट्ठी कर रहा है, देवा भी तेरे साथ रहता है। वो क्या मैं जानता नहीं?”

उन कामों में कमीनापन तो नहीं करते हम।”

मुझे तेरे से कुछ नहीं चाहिए पोतेबाबा ।” जगमोहन गुस्से से बोला-“तू चला जा यहां से।”

मैं तेरे को समझाने...।”

तू समझ गया होगा कि मैं तेरी बात नहीं मानने वाला। मेरे को समझाना तेरे बस का है भी नहीं।” ।

“बहुत बुरा भुगतेगा तू ।” पोतेबाबा के स्वर में चेतावनी के भाव आ गए।

“कुएं में जाकर गिर तू।” जगमोहन ने कहा और कप रखकर, सोफे पर ही लेट गया।

अगले दिन जगमोहन की आंख खुली तो सुबह के नौ बज रहे थे। कुछ पल वो आंखें खोले, कल की बीती घटनाओं के बारे में सोचने लगा, फिर उठा और किचन में जाकर कॉफी बनाई और सोफे पर बैठकर घूट भरने लगा। दिमाग में तरह-तरह के विचार घूम रहे थे। सोचें तेजी से दौड़ रही थीं। " अब वो पोतेबाबा के बारे में सोचने लग गया था। | पोतेबाबा जो भी था, खतरनाक था। जो नजर नहीं आता था और कभी भी उसके आस-पास मंडराता हो सकता था। उसकी हर हरकत को देख सकता था और उसे पता भी नहीं चल सकता। सिर्फ धुएं में उसकी आकृति चमकने लगती थी। उसकी मौजूदगी का स्पष्ट है मैं उसकी आकृत और उसे पता भीकता था। उसकी जगमोहन ने लाख सोचा, परंतु जथूरा के बारे में कुछ भी याद नहीं आया। ये सब उसके पूर्वजन्म के लोग थे। जिनके बारे में सीधे-सीधे कुछ भी याद नहीं आ सकता था। | जथूरा हादसों का देवता था।

इस दुनिया में होने वाले हर बुरे एक्सीडेंट को वो ही तैयार करता था। वो अपनी दुनिया में बैठा इस दुनिया के लोगों को मौत के मुंह में पहुंचा रहा था।

ये गलत बात थी। जथूरा को ऐसा नहीं करना चाहिए। मासूम लोगों की जान नहीं लेनी चाहिए उसे।

लेकिन उसे कैसे पहले ही पता चल जाता था कि कहां पर क्या हादसा होने वाला है?

पोतेबाबा कहता है कि कोई ऐसी शक्ति ये सब बातें उसके मस्तिष्क में डाल रही है, जो जथूरा के खिलाफ है। परंतु वो शक्ति उसे क्यों इस्तेमाल कर रही है, इस मामले में?

सोचों का कोई अंत नहीं था।

जगमोहन को लग रहा था कि इन सब बातों से वो पूरी तरह अंजान है कि ये सब क्या हो रहा है?

वो तो बार-बार ये ही सोचता कि क्या ये सब बातें, पूर्वजन्म की यात्रा की शुरुआत तो नहीं? | देवराज चौहान की जरूरत महसूस कर रहा था वो। परंतु देवराज चौहान दिल्ली में कहीं व्यस्त था और अब उसने ये ही तय किया कि देवराज चौहान को फोन पर कुछ नहीं बताएगा। उसकी बातें सुनकर देवराज चौहान खामखाह परेशान होगा और जो काम कर रहा है, कहीं उसमें न भटक जाए। देवराज चौहान जब वापस आएगा, तभी उसे ये सब बातें बताएगा।
Reply
03-08-2021, 10:29 AM,
#26
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
जगमोहन ने कॉफी समाप्त की और उठ खड़ा हुआ। | वो सबसे पहले बोरीवली के उस फ्लैट पर जाकर देखना चाहता
था कि सब ठीक रहा या नहीं।

जगमोहन नहा-धोकर तैयार हुआ। ब्रेड का नाश्ता किया फिर कार पर बोरीवली के लिए चल दिया। | पचास मिनट के सफर के पश्चात जगमोहन बोरीवली के उन फ्लैटों के पास पहुंचा। कार रोकी और 146 नम्बर फ्लैट तलाश करके सीढ़ियां चढ़ने लगा। दूसरी मंजिल पर 146 नम्बर फ्लैट के दरवाजे पर ठिठका। वहां शांति छाई थी। उसने कॉलबेल पर उंगली रखी तो भीतर कहीं बेल बजने का स्वर सुनाई दिया।

मन-ही-मन जगमोहन सोच रहा था कि सब ठीक हो। एकाएक दरवाजा खुला।।

जगमोहन ने चैन की सांस ली। क्योंकि दरवाजा खोलने वाली युवती वो ही थी, जिसे उसके मस्तिष्क ने देखा था।

“कहिए?” युवती ने उसे देखा। तभी पीछे से मर्द की आवाज आई।

कौन है रानी?”

जगमोहन ने पहचाना कि ये रात वाले आदमी की ही आवाज थी। यानी कि सब ठीक था। उसकी कोशिश सफल रहीं।

तभी वो व्यक्ति दरवाजे पर आया। उसने छोटे से बच्चे को उठा रखा था। जगमोहन को देखते ही वो चौंका।
अ...आप!”

जगमोहन मुस्करा पड़ा।

“ओह, भीतर आइए—मैं...”

मैं यहीं देखने आया था कि क्या सब ठीक है? वो देख लिया, मुझे रोकना मत। मैं व्यस्त हूं। अभी जाना है।”

उस आदमी के होंठों से कुछ न निकला वो अवाक-सा जगमोहन को देख रहा था।

“कौन है ये?” युवती ने उस आदमी को देखा।

जगमोहन पलटा और नीचे जाने के लिए सीढ़ियां उतरने लगा। कुछ ही पलों में वो नीचे खड़ी अपनी कार में आ बैठा था। ‘मैंने जथूरा का एक हादसा बेकार कर दिया। दो की जानें बचा लीं । जगमोहन बड़बड़ा उठा।

। “तुम आग से खेल रहे हो।” कानों में पोतेबाबा की आवाज पड़ी।

तुम फिर आ गए?”

बहुत खुश हो कि जथूरा का एक हादसा बेकार कर दिया।

तुम कब से कार में हो?”

*अभी आया हूं, जब तुम ऊपर गए।” पोतेबाबा की आवाज कानों में पड़ी।

“तुम अचानक मुझ तक कैसे आ जाते हो?” जगमोहन ने पूछा।

" “मैं अचानक नहीं आता। मैं भी तुम्हारी तरह इंसान हूं। हवा नहीं। मुझे भी भीतर-बाहर जाने के लिए दरवाजे का इस्तेमाल करना पड़ता है। खास बात सिर्फ ये है कि मैं अदृश्य हूं।”

जगमोहन के होंठ सिकुड़े। “मतलब कि इंसानी शरीर तुम्हारे साथ है।”

क्यों नहीं, मैं इंसान हूं तो, शरीर मेरे साथ क्यों नहीं होगा। दवा खाकर मैं अदृश्य हुआ पड़ा हूं।”

उसी पल जगमोहन नै बगल वाली सीट की तरफ हाथ बढ़ाया। जगमोहन का हाथ किसी की बांह से टकराया। परंतु वो बांह उसे नजर नहीं आ रही थी। जगमोहन पूरा शरीर टटोलने लगा।

ये क्या कर रहे हो?” पोतेबाबा की आवाज कानों में पड़ी।

बांह-कंधा, सिर, चेहरा, दाढ़ी, सब चीजों का एहसास हुआ जगमोहन को।
Reply
03-08-2021, 10:29 AM,
#27
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
तभी पोतेबाबा उसका हाथ झटकता कह उठा।
हाथ पीछे रखो। मुझे अच्छा नहीं लगता कि कोई इस तरह मेरे शरीर को हाथ लगाए ।”

*औरतों का स्पर्श तो तुम्हें पसंद होगा।” जगमोहन ने कड़वे स्वर में कहा।

बहुत पसंद है। जानते हो मेरी उम्र क्या है?

” क्या?”

350 बरस ।” होगी।”
लेकिन तुम्हारी दुनिया की औरतें मुझे ज्यादा पसंद हैं। ऐसी दो औरतों को मैं ले जा चुका हूं। जो अब मेरे साथ रहती हैं।”

तुम इस दुनिया से दो औरतों को अपनी दुनिया में ले गए?” जगमोहन के माथे पर बल पड़े।

“हां।”

ये तुमने गलत काम...।” ।

“मैंने जबर्दस्ती नहीं की। वे दोनों औरतें स्वेच्छा से मेरे साथ गईं।” पोतेबाबा ने कहा।

“मैं नहीं मानता कि वो औरतें अपनी इच्छा से... ।”

“मैं झूठ नहीं बोलता। क्यों बोलूंगा? तुमसे डरता नहीं मैं। वे दोनों औरतें सहेलियां थीं और बुरे हादसे का शिकार होने वाली थीं। मैंने उन्हें देखा तो वे मुझे अच्छी लगीं। तब मैं उनसे मिला और उन्हें बताया कि वो दोनों जल्द ही मरने वाली हैं। आने वाले वक्त की उन्हें तस्वीर भी दिखा दी, जिसमें वे मर रही थीं। मैंने उन्हें समझाया कि अगर वो मेरा साथ स्वीकार कर लेती हैं और मेरे साथ मेरी दुनिया में जाकर, मेरी सेवा करेंगी तो वे बच सकती हैं। इस तरह वे तैयार हो गईं।”

“जथूरा से नहीं पूछा?”

जथूरा की इजाजत से ही मैं उन औरतों को लेकर गया था।”

तुमने पहले उन औरतों को भयभीत किया फिर उन्हें अपने साथ चलने पर तैयार कर लिया।”

परंतु मैंने जबर्दस्ती नहीं की।” ।

घटिया हो तुम।”

“अभी तुम मुझे जानते नहीं, वरना...”

“मैं पसंद नहीं करता कि तुम मेरे पास आते रहो।”

मैं तुम्हारा पीछा नहीं छोड़ सकता।

” क्यों?।

जथूरा ने तुम्हारी जिम्मेवारी मुझ पर सौंपी है कि तुम्हें समझा-बुझाकर रास्ते पर लाऊ ।”

“तुम्हारी कही कोई बात भी मुझे स्वीकार नहीं ।”

“तुम्हें जथूरा की बातें स्वीकार करनी होंगी।”

“तुम मेरे पीछे क्यों पड़े हो?"

पोतेबाबा की आवाज नहीं आई।

उल्लू का पट्ठा।” जगमोहन ने कहा और कार स्टार्ट करके आगे बढ़ा दीं। चेहरे पर उखड़ापन था।

जथूरा आने वाले बुरे वक्त को टालना चाहता है, इसलिए तुम्हें इस रास्ते से हटाना चाहता है।”

बुरा वक्त?” कार चलाते जगमोहन के होंठों से निकला।

“बहुत बुरा वक्त। अगर तुमने मेरी बात नहीं मानी तो बुरी । घटनाओं का दौर शुरू हो जाएगा।”
Reply
03-08-2021, 10:29 AM,
#28
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
बुरी घटनाएं—किसके लिए?” तुम्हारे लिए भी और जथूरा के लिए भी। हम सब के लिए।” “तुम्हारा मतलब कि मेरा दिमाग जथूरा के बुरे हादसों को पहले ही देख लेता है, तो मैं उन हादसों के बारे में कुछ न करूं। बिल्ली को देखकर आंखें बंद कर लें तो, आने वाला बुरा वक्त थम जाएगा।”

हां। ठीक कहा तुमने ।”

“वो बुरा वक्त कैसा होगा?”

“ये मैं नहीं बता सकता।”

“या तुम्हें पता ही नहीं है उस बुरे वक्त के बारे में?”

पता है। कुछ-कुछ पता है।” पोतेबाबा की आवाज में गम्भीरता थी—“इसी कारण तुम्हें समझाने के लिए मारा-मारा फिर रहा हूं। जथूरा चाहता है कि तुम्हें, उसके काम न बिगाड़ने दें।”

फिर तो तुम्हारे हाथ मायूसीं लगेगी। मैं तुम्हारी बातें समझने वाला नहीं।” ।

क्यों जिद करते हो, मैं तुम्हें बहुत बड़ी दौलत...।” ।

यही वो पल थे कि जगमोहन को अपने मस्तिष्क में बिजलियां-सी कौंधती महसूस हुईं।
“आं।” जगमोहन के होंठों से निकला।

क्या हुआ?”

जगमोहन ने फौरन कार को सड़क के किनारे ले जा रोका।

अगले ही पल होंट भींचे जगमोहन ने सिर को कार के स्टेयरिंग पर रख दिया। मस्तिष्क झनझना रहा था उसका। आंखें बंद हो चुकी थीं। और फिर उसके मस्तिष्क में तस्वीरें उभरने लगीं।

एयरपोर्ट का दृश्य उसके मस्तिष्क में चमका ।। रोशनियों से एयरपोर्ट जगमगा रहा था।

दीवार पर उसे डिजिटल बोर्ड पर आज की तारीख और 4 बजे का वक्त दिखा। लोगों की भीड़ थी।

तभी एकाएक पुलिस और काले कपड़ों में कमांडोज़ नजर आने लगे। वो दस-बारह कमांडोज थे, जिन्होंने गनें थाम रखीं थीं। वे सब भीतर से आते एक रास्ते पर खड़े हो गए। पुलिस वहां से लोगों को पीछे हटाने लगी थी।

फिर जगमोहन के मस्तिष्क में कमांडो जैसे काले कपड़ों में एक व्यक्ति दिखा जो भीड़ से अलग खड़ा था। उसकी निगाह इसी तरफ थी और हाथ में मीडियम साइज का सूटकेस थाम रखा था।

तभी उस रास्ते से छः लोगों से घिरे प्रधानमंत्री आते दिखे। छः में से चार प्रधानमंत्री के पर्सनल कमांडोज थे और बाकी के दो उनके सहायक थे। ज्यों ही प्रधानमंत्री उस रास्ते से बाहर आए, वहां मौजूद कमांडोज ने उन्हें अपने घेरे में ले लिया और वे सब बाहर की तरफ बढ़ रहे थे।

पुलिस इस दौरान लोगों को पीछे रख रहीं थी।

कमांडो जैसे काले कपड़े पहने व्यक्ति ने फुर्ती से अपना सूटकेस खोला। उसमें गन रखी थी। उसने गुन निकाली और तेजी से आगे बढ़ते हुए प्रधानमंत्री को घेरे चल रहे कमांडोज में शामिल हो गया। किसी का भी ध्यान उस पर नहीं था। वो गन थामे कमांडो के बीच में से रास्ता बनाते जरा-जरा करके आगे बढ़ने लगा।

कमांडोजयुक्त प्रधानमंत्री का काफिला, तेजी से बाहरी गेट की तरफ बढ़ रहा था। | वो व्यक्ति प्रधानमंत्री के भीतरी सुरक्षा घेरे तक आ पहुंचा था। तब तक प्रधानमंत्रीजी बाहरी गेट तक आ पहुंचे थे। सामने सिक्योरिटी से लदी प्रधानमंत्री के कार्यालय की कार खड़ी थी। जिसका दरवाजा खुल चुका था। प्रधानमंत्रीजी आगे बढ़कर उसमें बैठने ही वाले थे कि उस व्यक्ति ने उसी पल गन सीधी की और गोलियां चलाने लगा। सारी जगह गोलियों की तड़-तड़ से गूंज उठी। प्रधानमंत्री का शरीर गोलियों से भर गया। वे नीचे जा गिरे।

| जगमोहन गहरी-गहरी सांसें लेने लगा था।
Reply
03-08-2021, 10:29 AM,
#29
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
अब उसका दिमाग शांत हो गया था। मस्तिष्क में बिजलियां चमकनी बंद हो गई थीं।
कई पलों तक जगमोहन स्टेयरिंग पर सिर रखे रहा। फिर उसने सिर उठाया। सीधा बैठा।
चेहरा पसीने से भरा हुआ था। अभी भी वह लम्बी सांसें ले रहा था। खुली आंखों के सामने वो सब कुछ तैर रहा था, जो उसके मस्तिष्क ने अभी-अभी देखा था।

प्रधानमंत्री की हत्या होने जा रही थी।
जबकि देश का प्रधानमंत्री एक अच्छा और शरीफ इंसान था। जनता में मशहूर था।
ये नहीं होना चाहिए। जगमोहन ने रूमाल निकालकर अपना पसीने से भरा चेहरा पोंछा।

क्या हुआ?” पोतेबाबा की गम्भीर आवाज कानों में पड़ी।

“तुम?” जगमोहन ने बगल वाली सीट की तरफ देखा–“तुम अभी गए नहीं?" ।

नहीं, मैं तुम्हारे पास ही बैठा था। क्या हुआ था तुम्हें अभी?”

जगमोहन दो पल चुप रहकर बोला।
तुम देश के प्रधानमंत्री को हादसे में मारने जा रहे हो?”

“हम नहीं मार रहे, वो तो हादसा होगा। तुम ये क्यों सोचते हो कि हम लोगों की जान लेते हैं?”

लेकिन वो हादसा जथूरा ने ही रचा है।”

“ठीक समझे ।”

प्रधानमंत्री शरीफ है, उसकी जान मत लो।”

तभी तो जथूरा उसकी जान लेने के लिए हादसा रच चुका है कि वो शरीफ है। वो शरीफ मरेगा तो कोई दूसरा प्रधानमंत्री बनेगा। षड्यंत्र भी होंगे और जथूरा को नए हादसे रचने का और भी मौका मिलेगा।” पोतेबाबा की आवाज कानों में पड़ी। ।

“तो तुम नहीं मानोगे?”

“मेरे हाथ में कुछ भी नहीं है। मैं तो तुम्हारे पास हूं। हादसे तो उस दुनिया में बैठा जथूरा रच रहा है।”

कैसे रचे जाते हैं हादसे?” “जथूरा सोचता है और अपने शिष्यों को बताता है कि कौन-सा हादसा कैसे रचना है। मैं वहां होता हूं तो जथूरा की इस काम में पूरी सहायता करता हूं। वैसे जथूरा के विद्वानों की जमात हादसों के तरीकों को सोचती है। विद्या ग्रहण किए हजारों शिष्य हैं जथूरा के जो आदेश के मुताबिक हादसों को रचते हैं। फिर रचे जा चुके हादसों का माप-तौल अनुभवी लोगों द्वारा किया जाता है कि हादसे को ठीक से रचा गया है या नहीं। अगर रचे हादसे में कोई कमी होती है तो उसे पुनः दुरस्त करने के लिए वापस भेज दिया जाता है। जो हादसा ठीक होता है उसे तुम्हारी दुनिया में उन नामों पर भेज दिया जाता है, जिसके लिए हादसा तैयार किया जाता है।”

“कैसे भेजा जाता है?"

“बहुत ही आसान है। जैसे तुम्हारी दुनिया के लोग मोबाइल फोन से एस.एम.एस. भेजते हैं, कुछ ऐसा ही सिस्टम हमारे पास है, परंतु उस तकनीक को हम गुप्त रखते हैं ताकि कोई हमारी वो तकनीक खराब न कर दे।”

“तुम लोगों ने बहुत तरक्की कर रखी है।”

“बहुत ज्यादा। तुम्हारी दुनिया से बड़े विद्वान हमारी दुनिया में हैं।”

“मैं पूर्वजन्म की दुनिया में कई बार जा चुका हूं।” जगमोहन गम्भीर स्वर में बोला।

खबर है मुझे ।” अब नहीं जाना चाहता।” क्योंकि वहां बड़े-बड़े खतरे होते हैं?”

“हां, वे ख़तरे हमारी दुनिया के लोगों पर भारी पड़ते हैं।” जगमोहन ने गहरी सांस ली।

तुम पूर्वजन्म का सफर न करो, यही मैं चाहता हूं, ये ही जथूरा चाहता है।”

क्या मतलब?” ।

“जथूरा के हादसों में दखल दोगे तो तुम्हें पूर्वजन्म का सफर करना पड़ सकता है।”
Reply

03-08-2021, 10:29 AM,
#30
RE: XXX Sex महाकाली--देवराज चौहान और मोना चौधरी सीरिज़
जगमोहन की गर्दन घूमी और सीट की तरफ देखा। वो ख़ाली थी। जगमोहन के होंठ भिंच गए।

कोई चाहता है कि तुम पूर्वजन्म का सफर करो। तभी तो वो जथूरा के हादसों का तुम्हें पूर्वाभास करा रहा है।”

वो क्यों मुझे पूर्वजन्म में भेजना चाहता है?”

ये तो वो ही जाने ।”

कौन है वो?”

“मैं नहीं जानता, परंतु वो शक्ति जो भी है, जथूरा की दुश्मन ही होगी। तभी तो तुम्हें जथूरा के खिलाफ भड़का रही है।”
मुझे तुम्हारी बात पर भरोसा नहीं।”

मैं झूठ नहीं बोलता जग्गू।”

“नहीं, मैं तुम्हारा यकीन नहीं कर सकता ।”

“एक बार करके देखो।”

“क्या?

सिर्फ एक बार तुम जथूरा के खेल में दखल मत दो। उसके बाद सब कुछ ठीक होता चला जाएगा।”

तुम्हारा मतलब है कि मैं प्रधानमंत्री की हत्या होने दें।

“हां, यही मेरा मतलब है। एक बार भी तुम खामोश बैठे रह गए तो उस शक्ति का चक्र टूट जाएगा। वो कमजोर होती चली जाएगी, फिर तुम्हें पूर्वजन्म का सफर भी नहीं करना पड़ेगा।”

और जथूरा के हादसे इसी प्रकार चलते रहेंगे।”

“हां। जैसे दुनिया चल रही है, वैसे ही चलती रहेगी।”

जगमोहन के चेहरे पर कड़वे भाव उभरे।

पोतेबाबा।”

हां ।”

“तेरे को किसी ने ये नहीं कहा कि तू बहुत बड़ा कमीना है?” जगमोहन ने तीखे में कहा।

“ऐसा मुझे किसी ने नहीं कहा।”

तो मैं कहता हूँ। अपनी जात पहचान ले ।”

“तू मेरी बेइज्जती कर रहा है जग्गू।” पोतेबाबा ने नाराजगी से कहा।

“अभी बहुत इज्जत से बात कर रहा हूं। मेरी कार से बाहर | निकला जा।”

मेरी बात...।” ।

“सुना नहीं तूने...मेरी कार से बाहर निकल जा।” जगमोहन गला फाड़कर चीखा।।

फिर दरवाजा खुला। लगा जैसे कोई बाहर निकला हो और दरवाजा बंद हो गया।

जगमोहन ने उस खाली सीट पर हाथ घुमाया। सब ठीक था। पोतेबाबा वास्तव में बाहर निकल गया था।

“अब एक बात और कान खोलकर सुन ले।” जगमोहन ने गुस्से से कार की खिड़की से बाहर देखा।

क्या?” कार के बाहर से पोतेबाबा की आवाज आई। दोबारा मेरी कार में बैठा तो बहुत मारूंगा।”

तू पागल है जग्गू। मैं जो कह रहा हूं तेरे भले के लिए ही कह रहा हूं।"

“तू मेरा तो क्या, किसी का भी भला नहीं कर सकता।” जगमोहन ने दांत भींचकर कहा और कार आगे बढ़ा दी।

| उखड़ा हुआ था जगमोहन्। पोतेबाबा से। जथुरा से और इन होने वाले हादसों से।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Rishton mai Chudai - परिवार desiaks 13 122,399 04-20-2021, 01:05 PM
Last Post: Rikrezy
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 86 438,362 04-19-2021, 12:14 PM
Last Post: deeppreeti
Star Antarvasna xi - झूठी शादी और सच्ची हवस desiaks 52 255,723 04-16-2021, 09:15 PM
Last Post: patel dixi
Star Rishton May chudai परिवार में चुदाई की गाथा desiaks 20 162,301 04-15-2021, 09:12 AM
Last Post: Burchatu
Star Incest Kahani परिवार(दि फैमिली) sexstories 668 4,235,528 04-14-2021, 07:12 PM
Last Post: Prity123
Star Free Sex Kahani स्पेशल करवाचौथ desiaks 129 72,797 04-14-2021, 12:49 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up MmsBee कोई तो रोक लो desiaks 270 562,218 04-13-2021, 01:40 PM
Last Post: chirag fanat
Star XXX Kahani Fantasy तारक मेहता का नंगा चश्मा desiaks 469 381,008 04-12-2021, 02:22 PM
Last Post: ankitkothare
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 240 359,685 04-10-2021, 01:29 AM
Last Post: LAS
Lightbulb Kamukta kahani कीमत वसूल desiaks 128 272,629 04-09-2021, 09:44 PM
Last Post: deeppreeti



Users browsing this thread: 3 Guest(s)