Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
01-22-2022, 04:49 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
 गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक

अपडेट-14

हाय गर्मी


सोनिआ भाभी ने अपनी रजोनिवृति के दौरान नंदू के साथ अपने अनुभव के बारे में आगे बताना जारी रखा

(सोनिआ भाभी) मैं: आआ? ओह हां! बिलकुल ठीक नंदू। लेकिन यह विशेष रूप से गर्मी के कारण नहीं था जैसा कि मुझे याद है, खैर वो जो कारण था लेकिन एक बात सच है - मैं और मेरी बेटी दोनों बहुत अधिक गर्मी बर्दाश्त नहीं कर सकती । हा हा हा?

(सोनिआ भाभी) मेरे द्विअर्थी बातो पर नंदू भी मुस्कुरा दिया ।

नंदू: लेकिन? फिर मौसी इस रैश की वजह क्या थी?

मैं: दरअसल उसके अंडरगारमेंट्स से कुछ रिएक्शन हो गया था।

नंदू: हे ! ओह ऐसा है।

मैं: हाँ, हमने भी शुरू में सोचा था कि यह हीट रैश था, लेकिन जब मैं उसे डॉक्टर के पास ले गयाी तो उसने निष्कर्ष निकाला कि यह उसके अंदरूनी वस्त्र के कपड़े की वजह से हुआ था ।

नंदू: ठीक है! यही कारण है कि दीदी के दाने केवल उनके शरीर पर कुछ विशिष्ट क्षेत्रों में ही थे।

मैं: वैसे नंदू तथ्य यह है कि उन गर्मियों के महीनों में आपकी दीदी के कारण मेरी नींद हराम हो गयी थी और आपकी जानकारी के लिए आपको बता दू की मैं उसके बचपन की नहीं, बल्कि उसके बड़े होने पर उसे लगने वाली गर्मी की बात कर रही हूं।

नंदू: लेकिन?

मैं: दरअसल वह अपनी शादी से पहले तक कभी बड़ी ही नहीं हुई! मुझे याद है नंदू के वो दिन? अगर कोई आगंतुक आता था तो मुझे उन गर्मियों की दोपहरों में बहुत सतर्क रहना पड़ता था। ओह! ये बहुत ही घिनौना! था !

नंदू: लेकिन? मौसी लेकिन क्यों?

नंदू बहुत शरारती लड़का लगा मुझे पर उसने ये बात मुझसे बिलकुल मासूम चेहरे से पूछी, हालांकि मुझे पूरा यकीन था कि वह जानता था कि मेरा क्या मतलब है। मैं अपनी बेटी के उदाहरण से हर संभव प्रयास करते हुए उसमें उत्तेजना पैदा करने की कोशिश कर रही थी ! मैं पहले ही तुम्हारे अंकल के रवैये से बहुत हताश थी !

मैं: नंदू, कभी-कभी तुम बच्चों की तरह बात करते हो! अरे, साल के उस समय में उच्च तापमान के कारण, आपकी दीदी घर पर बहुत कम कपड़ों में रहती थी और अगर दरवाजे की घंटी बजी तो मुझे हमेशा बहुत सतर्क रहना पड़ता था क्योंकि अगर कोई आकर उसे ऐसे देखता हो ?

नंदू: वह दीदी के बारे में बुरा सोचता । नंदू ने मेरा वाक्य पूरा किया

मैं: बिल्कुल!

इस समय तक मैंने अपनी साड़ी को पूरी तरह से अपने शरीर पर लपेटा हुआ था और शालीनता से ढकी हुई दिख रही थी। मुझे एहसास हुआ कि नंदू की आंखें मेरे फिगर पर टिकी हुई थीं और अब जब मैं उससे बात कर रही थी तो मैं अलमारी में कपडे ठीक कर रही थी ताकि नंदू को मुझसे बात करने में अजीब न लगे। सच कहूं तो मुझे भी उसका घूरना अच्छा लगा था ।

नंदू: लेकिन रचना दीदी गर्मियों में हमारे घर कई बार आई, लेकिन हमने ऐसा कुछ अनुभव नहीं किया ?

मैं: बेटा नंदू! जब आप यहां आते हो तो आप कितने अच्छे-अच्छे लड़के होते हैं, लेकिन घर पर क्या आप वही हैं? नहीं ना? इसी तरह आपकी दीदी भी कहीं और अच्छी बनी रही, लेकिन यहाँ? उफ्फ!

नंदू: नहीं, नहीं मौसी, मैं यह नहीं मान सकता। रचना दीदी आपकी बहुत आज्ञाकारी हैं। आप अतिशयोक्ति कर रही है ?

मैं स्पष्ट रूप से महसूस कर रही थी कि नंदू मेरी बेटी के बारे में और बताने के लिए मुझसे पूछताछ करने की कोशिश कर रहा था और मैं भी यही चाहती थी की वो मेरी और आकर्षित रहे।

मैं: ओहो! मैं अतिशयोक्ति नहीं कर रही हूँ ? हुह! अगर तुमने अपनी दीदी को यहाँ देखा होता तो आप भी यही कहते मैं उसे बढ़ा चढ़ा कर नहीं बता रही हूँ ? वैसे भी, अभी तुम इस पर चर्चा करने के लिए बहुत छोटे हो !

मैंने जानबूझकर नंदू को ताना मारते हुए कहा कि बहुत छोटा है? और मुझे पता था कि वह इसका विरोध करेगा।

नंदू: मौसी, मैं अब बड़ा हो गया हूं।

मैंने उसके क्रॉच की और देखा और उसके लंड की हालत का अंदाजा लगाने की कोशिश की, जो उसकी पैंट के नीचे अपना सिर उठा रहा था। सुबह में मैंने इसे पहले ही अपने उंगलियों से महसूस किया था और मैं पहले से ही उस युवा जीवंत लंड को चूसने के लिए इच्छुक थी ?

मैं: हम्म। ये तो समय से पता चल ही जाएगा ।

मैं रहस्यमय ढंग से मुस्कुरायी और नंदू निश्चित रूप से मेरा मतलब समझ नहीं पाया।

मैं: वैसे भी, आपकी दीदी अब बहुत दूर है और खुशी-खुशी आपके जीजा जी की सेवा कर रही है। मुझे अब इस बात की अधिक चिंता है कि इस भीषण गर्मी से बचने के लिए मुझे क्या करना चाहिए।

नंदू: मौसी, आप मेरे साथ क्या साझा करना चाहती थी ?

मैं: ठीक है, अगर तुम एक अच्छे लड़के बने रहोगे और जो मैं कहूँगी वह करोगे, तो मैं तुमसे कहूँगी , लेकिन अभी नहीं।

नंदू: तो ये तय रहा मौसी। आप जो कहोगी मैं वो करूंगा।

उसने काफी ऊर्जा और निश्चय से कहा और मैं उसे अपनी मूल समस्या पर वापस लाना चाहती थी ।

मैं: आपने मेरी मूल समस्या का समाधान नहीं किया है?

नंदू: क्या? ओह! यह उमस भरी गर्मी? सच कहूं तो मौसी, आपकी समस्या का समाधान करने के लिए आपके पास मौसा-जी की बात मान लेने के अलावा और कोई दूसरा उपाय नहीं है ।

वह मुस्कुरा रहा था और साथ ही शर्मा भी रहा था! ये मुझे वास्तव में अच्छा लगा कि जैसा कि मैंने महसूस किया कि वह मेरे सामने धीरे-धीरे खुल रहा था! उसने वास्तव में अपनी मौसी को सुझाव दिया था कि अगर उसे गर्मी के कारण पसीना आता है तो वह घर के भीतर साड़ी-रहित रहे!

मैं: हम्म। तो देखो - मैंने तुमसे कहा था ? आप सभी लोग एक जैसा सोचते हैं। लेकिन मेरे प्यारे नंदू, वह अभी भी मेरी समस्या का पूरा इलाज नहीं है ।

नंदू: क्यों मौसी?

मैं: अगर मैं तुम्हारी मौसा जी की बात मान भी लूँ और लंच करने के बाद मैं साडी के बिना सिर्फ अपने ब्लाउज और पेटीकोट में रहूँ पर परेशानी यह है कि मुझे अपनी टांगो पर सबसे ज्यादा पसीना आता है। तो मुझे यकीन नहीं है कि इससे मुझे मदद मिलेगी। क्या मैं जो कह रही हूं वह आप समझ पाए हो, नंदू ?

नंदू: हाँ, हाँ मौसी। हम्म, मैं समझ सकता हूँ।

40+ लोमडी अपने मासूम शिकार नंदू के साथ खिलवाड़ कर रही थी !

वह एक विशेषज्ञ की तरह सिर हिला रहा था, लेकिन मैं चाहती थी कि वह शब्दों में बयां करे।

मैं: बताओ तुमने क्या समझा? मुझे समझने दो कि क्या तुम अब समझदार हो गए हो या नहीं ?

नंदू: मेरा मतलब मौसी है? जैसा कि आपने कहा कि आपकी टांगो में सबसे ज्यादा पसीना आता है, आपको लगता है कि भले ही आप साड़ी के बिना हों तब भी आपको आपकी टांगो में सबसे ज्यादा पसीना आएगा ?

मैं: हम्म। हम्म।

नंदू: जब आपके शरीर पर सिर्फ पेटीकोट होगा तब भी आप गर्मी, महसूस करोगी ?

मैं: वाह ! ऐसा लगता है अब आप काफी बड़े हो गए हो ! इसलिए मुझे इन हालात में क्या करना चाहिए ?

मैंने अलमारी का काम खत्म कर लिया था और अब आकर बिस्तर पर बैठ गयी और इस बातचीत को जारी रखा, जो मुझे आनंद दे रही थी!

मैं: सरल समाधान के तौर पर मैं अपने पेटीकोट को कुछ लंबाई तक ऊपर खींच सकती हूं और बिस्तर या फर्श पर लेट सकती हूं। है ना?

नंदू: ? हां। आप ऐसा कर सकती हैं माँ? मौसी!

मैं एक गहरी सांस लेने के लिए रुकी । मैं अब निश्चित रूप से उत्तेजित हो रही थी और नंदू भी ।

जारी रहेगी
Reply

01-30-2022, 12:00 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
waiting eagerly for the next update !
Reply
03-06-2022, 10:10 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक

अपडेट-15

गर्मी का इलाज 


सोनिआ भाभी ने अपनी आप बीती बतानी जारी राखी ..



मैं ( सोनिआ भाभी) : नंदू तुम बिलकुल अपने मौसा-जी की तरह ही हो , तुम बोलने से पहले यह नहीं सोचते कि तुम क्या कह रहे हो ।



नंदू: आपको ऐसा क्यों लगा मौसी ?



मैं: ठीक है, अच्छा , मुझे बताओ - क्या जब तुम घर पर होते तो तो क्या तुम हमेशा अपनी पेण्ट, निक्कर या बरमूडा या पायजामे के नीचे अंडरवियर पहनते हो ?



स्वाभाविक रूप से, नंदू अचानक आये इस सीधे सवाल से थोड़ा अचंभित लग रहा था। मैंने नंदू के पेल्विक एरिया को देखा कि कहीं कोई हलचल तो नहीं हुई!



नंदू: अरे… मौसी… मेरा मतलब… बेशक, हाँ, सोने के अलावा ।



मैं: तो अब यही मेरी समस्या है। मेरा मतलब है कि -- आपको शायद ये पता नहीं है कि मैं घर पर पेटीकोट के नीचे कुछ भी नहीं पहनती हूँ .



नंदू को यह बताते हुए मेरी आवाज लगभग लड़खड़ा गई और स्वाभाविक रूप से, नंदू अपने ही मौसी के मुंह से यह सुन कर काफी हक्का-बक्का रह गया।



मैं: तो जो तुम आसानी से कर सकते हो नंदू, मैं नहीं कर सकती । चूँकि आप अपने कहे अनुसार ज्यादातर समय अपना अंडरवियर पहनते हो तो आप आसानी से अपना बरमूडा या पायजामा जो भी पहन रहे हैं उसे निकाल सकते हो और गर्मी में सहज महसूस कर सकते हो लेकिन मेरे बारे में सोचें! अगर मैं साड़ी न भी पहन लूं तो भी नंदू, मैं अपना पेटीकोट नहीं उतार सकती, क्योंकि मैं इसके नीचे कुछ नहीं पहनती हूँ ।



कुछ क्षण के लिए कमरे में सन्नाटा छा गया क्योंकि नंदू अपने मौसी से इन बहुत ही स्पष्ट बयानों को सुनकर काफी चकित हो गया था । उससे कतई ये उम्मीद नहीं थी की उसकी मौसी उसके साथ आईओसी बाते करेगी . लेकिन उसने चुप्पी तोड़ते हुए जो कहा उसने मुझे चौंका दिया और मेरा मुँह खुला का खुला रह गया !



नंदू: मेरा मतलब है... मौसी आपको ये अजीब नहीं लगता? वास्तव में जब मैं घर में घूम रहा होतो हूँ और अगर मैंने अपना ब्रीफ नहीं पहना होता है तो मुझे बहुत अजीब महसूस होता है चाहे उस समय घर में केवल माँ ही मौजूद हो। पता नहीं क्यों... शायद मुझे इसकी आदत है. । क्या आप को ऐसा नहीं लगता है मेरा मतलब, मौसी क्या आप भी ऐसा ही महसूस करती हो ?



मैं: नंदू... ... ठीक है, ऐसा ही है... मेरा मतलब है कि हम महिलाएं आप पुरुषों की तुलना में अलग हैं

। मेरा मतलब है!



मुझे समझ नहीं आ रहा था मैं उसे क्या बोलूं ?



मैं नंदू को जवाब देने के लिए शब्द खोज रही थी और वह मेरी शर्मिंदगी को देखकर मुस्कुरा रहा था ।



मैं: हां नंदू, यह सच है कि मुझे भी ऐसा ही लगता है, लेकिन आप जानते हो कि मेरे शरीर पर अमूनन साड़ी और पेटीकोट के रूप में दो आवरण होते हैं, इसलिए मैं अक्सर इसे पहनना छोड़ देती हूँ ... मेरा मतलब है... मेरी पैंटी।



आखिरी कुछ शब्द बोलते हुए मेरी आवाज कर्कश हो गई थी और मैं महसूस कर रही थी कि मेरी जीभ सूख रही थी और मुझे एहसास हुआ कि मेरी भद्दी बातों के कारण उत्तेजना से मेरे निप्पल मेरे चोली के अंदर सूज गए थे।



नंदू : पर मौसी…पता नहीं… आप अलग तरह से सोचती हो, लेकिन मुझे लगता है की आपको इसकी जरूरत और भी ज्यादा महसूस होती होगी क्योंकि मौसा जी घर में रहते हैं, और आपके घर में नौकर नौकरानी आते-जाते रहते हैं, और सेल्समैन भी बार-बार आते रहते हैं ...



नंदू ने अब मुझे मेरी ही बातो में घेर लिया था और अब मैं उसे एक भी अच्छा कारण नहीं बता पा रही थी कि मैं घर पर पैंटी क्यों नहीं पहनती और फिर ऐसे हालात में मुझे अपनी गरिमा बचाने के लिए कुछ कहानी पकानी पड़ी ।



मैं: दरअसल नंदू, जैसा कि मैंने तुमसे कहा था कि मेरी टांगो में बहुत पसीना आता है . वास्तव में इस पूरे क्षेत्र में इतना पसीना आता है...



मैंने अपने दाहिने हाथ से अपनी ऊपरी जांघ और कमर क्षेत्र की और संकेत दिया।



मैं:…वह और इस कारण से मेरा भीतरी पहनावा बहुत जल्दी खराब हो जाता है। यही मेरी समस्या का असली कारण है...



नंदू: ठीक है, मौसी। आपको यह पहले ही बता देना चाहिए था।



अब वह मुस्कुरा रहा था और मैंने भी एक बहुत ही मूर्खतापूर्ण मुस्कान दी, यह जानकर कि मैं इस युवा किशोर को गरमाने के चक्कर में उसके साथ शब्दों के साथ खेलते हुए लगभग फंस गयी थी, मैंने स्मार्ट अभिनय करने और विषय बदलने की कोशिश की।



मैं: लेकिन अब जब तुम यहाँ पर हो तो तुम्हे एक ड्यूटी देती हूँ ।



नंदू : क्या ड्यूटी मौसी?



मैं: हररोज दोपहर को सेल्समैन मुझे बहुत परेशान करते हैं। चूंकि अब आप घर पर हैं, तो उनसे आप निपटना। उम्मीद है तुम्हे ज्यादा परेशानी नहीं होगी .



नंदू: ओह! नहीं, जब मैं घर पर होता हूँ तो माँ भी मुझे यह ड्यूटी देती है!



मैं: ओह! अच्छी बात है। तो आपको पहले से ही ऐसी ड्यूटी करने की आदत है... लेकिन याद रखना यहाँ आपके लिए एक अनिवार्य कर्तव्य होगा, क्योंकि मैं अब तुम्हारी कुछ मदद नहीं कर पाऊँगी !



नंदू : क्यों ? मैं समझा नहीं मौसी...



मैं: तुम्हारी याददाश्त बहुत कमजोर है नंदू!



नंदू: क्यों?



मैं: अरे, तुम बेवकूफ हो! मैं बिना साड़ी पहने सेल्समैन के सामने कैसे जा सकती हूं?



नंदू: ओह! तो, आप इसके लिए सहमत हो ?



मैं: क्या कोई और रास्ता है? आप भी मुझे कोई अन्य सुझाव नहीं दे सके...



नंदू: ओह! ठीक है मौसी। मैं आगंतुकों से निपट लूँगा ।



मैं: मैं आपके साथ ड्यूटी साझी कर सकती थी , लेकिन यह बिल्कुल भी व्यावहारिक नहीं है कि हर बार जब कोई दरवाजे की घंटी बजाए , तो मैं हर बार अपनी साड़ी लपेटूं। है ना?



नंदू: ठीक है, ठीक है। यह संभव नहीं है।



बस उसी पल. "डिंग डोंग!" दरवाजे की घंटी बजी और मुझे एहसास हुआ कि शायद मेरा पति लौट आया होगा ।



मैं: ओह! हमने काफी समय बर्बाद कर दिया । जल्दी करो! जल्दी करो! . नंदू तुम स्नान कर लो । मैं दरवाजा खोलती हूँ ।



जैसी कि उम्मीद थी, मेरे पति मनोहर लौट आये थे। उस दिन मेरे पति ने पूरी दोपहर नंदू के साथ बिताई और मैं दोपहर के भोजन के बाद सो गयी । फिर वह नंदू के साथ शाम की सैर के चले गए । अंत में लगभग 8 बजे तुम्हारे मनोहर अंकल ताश खेलने के लिए अपने दोस्त के यहाँ गए । हालाँकि यह उसकी नियमित आदत नहीं थी, लेकिन कभी-कभी वह कुछ सैर इत्यादि करने जाता था।



मुझे अब एक बार फिर से नंदू के 'करीब' आने का मौका मिला, लेकिन इस बार हमारी नौकरानी गायत्री घर में रसोई में खाना बना रही थी। इसलिए मुझे बहुत सावधानीपूर्वक आगे की योजना बनानी पड़ी।


जारी रहेगी
Reply
03-06-2022, 10:12 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक

अपडेट-16

तिलचट्टा



सोनिआ भाभी ने अपनी रजोनिवृति के बाद की आप बीती बतानी जारी रखी ...

सोनिआ भाभी-आदमी लाख चाहे वही होता है, जो मंजूर-ए-खुदा होता है! मैंने कुछ योजना बनाई थी, लेकिन वह सब बेकार हो गयी। मैंने अपनी बेटी के हनीमून की तस्वीरें नंदू के साथ साझा करने की योजना बनाई थी, जिससे मुझे नंदू को बिस्तर पर लाने में मदद मिलती। हनीमून की तस्वीरें चुनने का कारण यह था कि उस सेट में मेरे दामाद के साथ मेरी बेटी की कुछ अंगप्रदर्शक और अंतरंग तस्वीरें थीं और मैंने सोचा कि उनको देख कर उन पर नंदू की प्रतिक्रिया देखने का यह एक अच्छा अवसर होगा? और मैं इस निकटता का लाभ उठा सकती थी। परंतु?

मैंने गायत्री को खाना बनाने के आवश्यक निर्देश दिए ताकि वह बीच में आकर मुझे डिस्टर्ब न करें और फिर नंदू की ओर चल पड़ी। वह सोफ़े पर लेटा टीवी देख रहा था।

मैं (सोनिआ भाभी) : नंदू, क्या आपने दीदी की शादी की तस्वीरें देखी हैं?

नंदू: हाँ, बिल्कुल मौसी। आपने शादी का एल्बम माँ को भेजा था। क्या आपको कोई याद आया?

मैं (सोनिआ भाभी) : ओह तो आपने उन फोटो को देखा होगा, लेकिन निश्चित रूप से आपने गोवा की तस्वीरें नहीं देखी होंगी।

नंदू: गोवा ... गोवा?

मैं (सोनिआ भाभी) : अरे नंदू, तुम भूल गए कि वे हनीमून के लिए गोवा गए थे?

नंदू: ओहो! ठीक ठीक! यह मेरे दिमाग से निकल गया था। वे गोवा गए थे? मैंने उन तस्वीरों को नहीं देखा है।

मैं (सोनिआ भाभी) : फिर टीवी बंद कर मेरे कमरे में आ जाओ।

नंदू ने तुरंत टेलीविजन बंद कर दिया और मेरे पीछे हो लिया। यह जानते हुए कि वह मेरे ठीक पीछे था, मैं धीरे-धीरे और मटक-मटक कर चली और उसे आकर्षित करने के लिए अपने कूल्हों को काफी हिला रही थी। यह भी एक नई गतिविधि थी जो मैं 40 की उम्र में कर रही थी! मेरी चूत में खुजली होने लगी थी, क्योंकि मुझे पता था कि नंदू इस समय निश्चित रूप से मेरी साड़ी से ढकी गांड देख रहा था और चूँकि मेरे कूल्हे गोल, बड़े और काफी उभरे हुए हैं, मुझे लगा कि मैं पीछे से काफी सेक्सी दिख रही हूँ।

मैं (सोनिआ भाभी): वहाँ बैठो और मैं तुम्हारे लिए एल्बम लाती हूँ।

मैंने नंदू को बिस्तर पर चढ़ते देखा और एहतियात के तौर पर सुरक्षित रहने के लिए मैंने सावधानी पूर्वक दरवाजा बंद कर दिया। उस समय मेरी नौकरानी गायत्री रसोई में थी और इसलिए किसी तरह की गड़बड़ी की संभावना कम थी। लेकिन जैसे ही मैंने अलबम लेने के लिए अलमारी खोली, लाइट चली गयी और ब्लैकआउट हो गया!

मैं : उफ़!

नंदू: अरे नहीं!

ये बिजली कटौती थी! और एक पल के लिए मैं उदास और चिढ़ गयी थी कि नंदू के साथ बिस्तर पर बैठकर कुछ समय बिताने की मेरी योजना विफल हो गई!

गायत्री: बीवी-जी, मैंने माचिस की तीली और मोमबत्ती जलाकर यहाँ रख दी है।

मैंने अपनी नौकरानी को रसोई से चिल्लाते हुए सुना।

मैं (सोनिआ भाभी) : ठीक है गायत्री। मैं यहाँ भी रौशनी की व्यवस्था कर देती हूँ।

अचानक मेरे दिमाग में एक अजीब विचार आया और मैंने उस व्यवधान के लिए तुरंत भगवान को धन्यवाद दिया!

मैं (सोनिआ भाभी): नंदू, क्या तुम मेरे लिए माचिस ला सकते हो। वह बिस्तर के ठीक बगल में स्टूल पर रखी हुई है।

नंदू: ओह! मौसी लेकिन यहाँ बिलकुल गहरा अँधेरा है। एक सेकंड मौसी! मैं माचिस को ढूँढने की कोशिश करता हूँ,

मैं (सोनिआ भाभी): जल्दी मत करो, धीरे और ध्यान से नीचे उतरो।

नंदू: ओ? ठीक है मौसी।

मैं नहीं चाहती थी कि नंदू माचिस की डिब्बी तक पहुँचे क्योंकि तब कमरे को आसानी से एक मोमबत्ती की सहायता से रोशन किया जा सकता था और इसलिए मैंने सीधे अपने विचित्र उद्देश्य पर जाने का निश्चय किया।

मैं (सोनिआ भाभी): आउच! ईईईईईईई! हे भगवान! उह्ह्हओह्ह्ह?

नंदू चौंक गया और बोला।

नंदू: क्या हुआ मौसी? क्या हुआ?

मैं (सोनिआ भाभी): हाइये! नंदू! यहाँ मेरे शरीर पर एक तिलचट्टा है। उफ्फ! जल्दी आओ और इससे हटाओ? ओह्ह्ह इसे मेरे शरीर से हटाओ!

मैंने अपनी आवाज को नियंत्रण में रखने की पूरी कोशिश की क्योंकि मैं किसी भी तरह से अपनी नौकरानी का ध्यान आकर्षित नहीं करना चाहती थी?

नंदू: ओहो! तिलचट्टा? मौसी जिस तरह से आप चिल्लाई मैं बहुत डर गया था? घबराइए मत मौसी। बस इसे थप्पड़ मारो।

मैं (सोनिआ भाभी): नंदू? ओई माँ! यह मेरे शरीर पर चल रहा है। मुझे कॉकरोच से बहुत डर लगता है। आप कुछ करो। प्लीईईईज़ मुझे इससे बचाओ नन्दू? ।

नंदू: ठीक है, मौसी? डरो मत। बस एक मूर्ति की तरह खड़ी हो जाओ। मैं आपके पास आ रहा हूँ। उफ़ ये अंधेरा?

मैंने अनदाजा लगाया की वह बिस्तर से कूद गया है और मैं उसके लिए चीजों को आसान बनाने के लिए तेजी से कुछ कदम आगे बढ़ी और इस अवसर का भरपूर फायदा उठाने की कोशिश की, मैंने जल्दी से अपनी साड़ी का पल्लू फर्श पर गिरा दिया। अँधेरे में नंदू को वह दिखाई नहीं दिया।

नंदू: मौसी! आप कहाँ हैं? अलमारी के पास?

मैं (सोनिआ भाभी): नहीं, अलमारी के पास नहीं। तुम्हारे पास।

उसने एक कदम आगे बढ़ाया और लगभग मुझसे टकरा गया। नंदू अब मेरे इतने करीब आ गया था कि मैंने तुरंत उसकी बांह को कस कर पकड़कर उसे साबित कर दिया कि मैं बहुत डरी हुई थी।

मैं (सोनिआ भाभी): उहुउउउउउ? नंदू, कृपया इस चीज को मेरे शरीर से हटा दो। यह एक ऐसा भयानक एहसास है! मुझे इससे बहुत डर लगता है

नंदू: लेकिन मौसी, इतने अँधेरे में मुझे कैसे पता चलेगा कि तिलचट्टा कहाँ है?

मैं उसके शरीर की गंध महसूस कर सकती थी कि नाडु उस समय मेरे बहुत करीब था।

नंदू: ओह! यह क्या है? जमीन पर?

मैं(सोनिआ भाभी): यह मेरी साड़ी है बाबा! कॉकरोच को बाहर निकालने के चककर में नीचे गिर गया है। उइइइइइइइ? । यह बदमाश कॉकरोच फिर से आगे बढ़ रहा है बचाओ नंदू

नंदू: मौसी कहाँ? कहाँ है?

मैं (सोनिआ भाभी): उउउउउउउउ? यह अब मेरे ब्लाउज पर है।

जारी रहेगी
Reply
03-06-2022, 10:14 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक


अपडेट-17

तिलचट्टा कहाँ गया 



सोनिआ भाभी ने अपनी रजोनिवृति के बाद की आप बीती बतानी जारी रखी ...

जैसा कि मैंने कहा! ब्लाउज! मैं अपने ही दिल की धड़कन सुन सकती थी । मैं ग्यारहवीं कक्षा में पढ़ने वाले मेरी बहन का बेटे को आमंत्रित कर रही थी की वो मेरे मेरे स्तन पर आ गए तिलचट्टे को निकाल दे । मैं अँधेरे में नंदू का चेहरा नहीं देख सकी , लेकिन वह झिझक रहा था।

मैं( सोनिआ भाभी) : मैं अपनी आँखें नहीं खोल सकती ? बहुत डरी हुई हूँ। इइइइइइइइ! तुम कुछ भी करो, लेकिन मुझे इस स्थिति से बाहर निकालो।

नंदू: लेकिन मौसी, मेरा मतलब है , तो मुझे आपको महसूस करना होगा और देखना होगा कि वह तिलचट्टा कहाँ है! मैं इस अंधेरे में कुछ भी नहीं देख सकता।

मैं ( सोनिआ भाभी) : तुम्हें किसने मुझे छूने से रोका है? आआआआ? यह फिर से चल रहा है! नंदू जल्दी! कृपया जल्दी करो !

नंदू: अरे? मौसी? किस तरफ? मेरा मतलब है बाएँ या दाएँ?

वह अभी भी मेरे स्तनों की ओर हाथ नहीं उठा रहा था और मैं इस लड़के के ढुलमुल रवैये को देखकर अधीर हो रही थी ।

मैं ( रश्मि) : भाभी सच में आप बहुत निराश भी हुई होगी !

भाभी : नहीं मैंने हिम्मत नहीं छोड़ी और मैंने जबरदस्ती उसके दोनों हाथ पकड़ लिए और सीधे अपनी फर्म और गोल बूब्स पर रख दिया।

मैं ( सोनिआ भाभी): अब इसे ढूंढो! ये कहाँ है कभी ये मेरे बाएं स्तन पर आ जाता है और कभी मेरे दाहिने स्तन पर चला जाता है?

मेरे स्तनों के टाइट मांस को छूते ही नंदू ने फौरन अपनी हथेलियाँ पीछे हटा लीं, लेकिन मैंने फिर बोलै नन्दू जल्दी करो तो मेरे खुले निमंत्रण को देखकर वो तिलचट्टे की तलाश में दोनों हाथों से मेरे ब्लाउज से ढके शंक्वाकार रसदार स्तन महसूस करने लगे!

नंदू: मौसी कहाँ है? मुझे यह नहीं मिल रहा है?

मैं ( सोनिआ भाभी): आह्ह्ह्ह्ह्ह! आप इसे ऐसे नहीं पकड़ पाओगे ? वह कीड़ा लगातार चल रहा है, बेवकूफ! तुम मेरे कंधे से शुरू करो और फिर नीचे आओ?

नंदू वास्तव में अब मेरे बहुत करीब था। मैंने अपनी बाहें हवा में उठा ली थीं और मैंने बहुत डरने का नाटक किया था। उसने अब मेरे कंधे पर हाथ रखा और जल्दी से नीचे आ रहा था। मुझे उसकी सांसें साफ सुनाई दे रही थीं, जो वाकई पहले से तेज थी। मैं उसके हाथ काँपते हुए महसूस कर रही थी ! मैंने सोचा कि ग्यारहवीं कक्षा के लड़के के लिए एक परिपक्व महिला के पूर्ण विकसित स्तनों को खुले तौर पर छूने और महसूस करने का अवसर मिलने पर उनके हाथ अस्थिर होना स्वाभाविक था।

मैं ( सोनिआ भाभी): हाँ, वह बेहतर है।

फिर कंधो से शुरू करके गले से होकर नंदू की हथेलियों ने मेरे ऊपरी स्तनों को फिर महसूस किया, मेरे स्तन का वो हिस्सा जो मेरे ब्लाउज के ठीक ऊपर खुला रहता है वहां उसके हाथ गए । उसकी उँगलियाँ मेरे स्तनों की गहरी दरार को महसूस करने लगी । मेरी चूत के अंदर पहले से ही बड़ी हलचल हो रही थी - मानो कोई नदी, जो कई सालों से सूखी थी, अचानक उसे बारिश का पानी मिल गया। अब वह और नीचे चला गया, उसकी उँगलियाँ मेरे ब्लाउज के कपड़े को पकड़ रही थीं और मेरे पूरे स्तनों का तना हुआ मांस महसूस कर रही थीं। उसका हाथ और नीचे खिसक गया और अब वह वास्तव में सामने से मेरे पूरे स्तनों को अपनी दोनों हथेलियों से दबा रहा था और मेरे तंग स्तन के मांस की गोलाई और चिकनाई का आनंद ले रहा था। मैं इतना उत्तेजित हो गयी थी कि मैंने अपनी मुट्ठी हवा में बंद कर ली थी ।

मैं ( सोनिआ भाभी): आआआआआआआआआह! उह्ह्ह ह्ह्हह्ह ह्ह्ह्हाई !

मैं आनद से कराह रही थी , लेकिन नंदू ने कुछ और ही सोचा!

नंदू: मौसी, कृपया थोड़ा धैर्य रखें! मैं इसका पता लगाने की कोशिश कर रहा हूं। अगर आप कम से कम मुझे इतना तो बता दीजिये कि कौन सा स्तन है, तो यह मेरे लिए आसान होगए !

मैं ( सोनिआ भाभी): आआआआ, बस चुप रहो और वही करो जो तुम कर रहे हो!

मैं अपने शब्दों पर नंदू की प्रतिक्रिया नहीं देख सकी , क्योंकि मुझे इससे अधिकतम संतुष्टि प्राप्त करने में अधिक दिलचस्पी थी। नंदू की उंगलियां और नीचे खिसक रही थीं और अब उसकी उंगलियों दोनों स्तनों पर मेरे निप्पल पर थी और मुझे पूरा यकीन था कि नंदू भी मेरे सीधे और सूजे हुए निपल्स को मेरे ब्लाउज और ब्रा के तंग कपड़े के नीचे आसानी से महसूस कर रहा था । .

मैं ( सोनिआ भाभी): नंदू मैं प्रतीक्षा कर रही हूं? अरे वहाँ रुको नंदू! क्षण भर पहले कॉकरोच ठीक वहीं था, जहां तुम्हारी अंगुली है।

नंदू: ठीक है मौसी। अब मैं हाथ नहीं हिलाऊंगा।

मैं ( सोनिआ भाभी): बस वहाँ दबा देना ताकि तुम्हारे हाथ नीचे न फिसलें। हो सकता है वह वहीं वापस आ जाए। अब पता नहीं यह कहाँ चला गया !

नंदू ने अब मेरे निपल्स के ऊपर अपनी उंगलियां दबाईं और वह पहले से ही मेरे गोल बड़े और भरे स्तनों को छूकर और महसूस करके काफी उत्तेजित लग रहा था क्योंकि मैंने स्पष्ट रूप से महसूस किया था कि वह उस समय एक परिपक्व पुरुष की तरह मेरे स्तन पकड़ रहा था और धीरे-धीरे उन्हें दबा रहा था! उसकी हथेलियाँ इतनी बड़ी नहीं थीं कि मेरे भारी स्तनों को ढँक सकें पर फिर भी वह मेरे स्तन की परिधि को ढँकने की पूरी कोशिश कर रहा था। मुझे सबसे ज्यादा मजा तब आया जब मैंने उसे अपने दोनों हाथों की मध्यमा उंगली से अपने ब्लाउज के नीचे मेरे सख्त निपल्स को सहलाते हुए पाया!

नंदू: मौसी! क्या अब आप महसूस कर सकती हो कि तिलचट्टा कहाँ है?

मैं( सोनिआ भाभी): नहीं!

नंदू अब बहुत जोर से सांस ले रहा था और मैं भी। यह एक छुपा हुआ आशीर्वाद ही था कि हम अंधेरे के कारण एक-दूसरे का चेहरा नहीं देख सके। मैंने सोचा ये बिजली कटौती लंबे समय तक चलनी चाहिए !

नंदू: क्या मैं अपने हाथ हटा लू ? मेरा मतलब है, मौसी क्या मैं तुम्हें वहाँ पकड़ कर रखूँ?

मैं ( सोनिआ भाभी): यससससस ?

नंदू: अरे मौसी! मुझे कुछ लगा !

मैं( सोनिआ भाभी): क्या?

नंदू: मुझे नहीं पता? ऐसा लग रहा था कि इसने मेरे दाहिने हाथ को छुआ है ?

मैं( सोनिआ भाभी): कॉकरोच हो सकता है! अरे नहीं!

नंदू: मौसी आप िस्टना ज्यादा क्यों घबरा रही हो ! यह सिर्फ एक छोटा सा कीट है!

मैं( सोनिआ भाभी): हो सकता है ? तुम जो कुछ भी कहते हो वो ठीक है पर मैं उससे बहुत डरती हूँ! क्या तुम मेरे दिल की धड़कन महसूस नहीं कर सकते?

नंदू: नहीं?

मैं ( सोनिआ भाभी): तुम बेवकूफ हो! कानों में नहीं! नंदू क्या तुम मेरी धड़कन अपने अंदर महसूस नहीं कर सकते हो ? आपकी हथेलियाँ इस समय मेरे दिल पर है ? मैंने झूठ बोलै की मेरा दिल इस समय घबराहट में बहुत तेज धड़क रहा है जबकि दिल उस समय उत्तेजना के कारण तेज फड़क रहा था

उसकी हथेलियाँ सामने से मेरे टाइट स्तनों को अच्छी तरह से ढँक रही थीं और निश्चित रूप से अपने मौसी के परिपक्व स्तनों को हथियाने का अवसर मिलने से उसका लंड सीधा हो गया होगा।

नंदू: ओह! हाँ कभी कभी हल्का हल्का कुछ लग तो रहा है ?

मैं ( सोनिआ भाभी): नंदू काम करो, जोर से दबाओ और तभी तुम मेरे दिल की धड़कन को महसूस कर सकते हो। मेरे स्तनों को जोर से दबाओ ?

नंदू: ओ? ठीक है मौसी।

नंदू ने इस बार अपने सभी अवरोधों को छोड़ दिया और मेरे स्तनों को सामने से एक बहुत जोर से दबा दिया अब वह निश्चित रूप से पहले की तुलना में अधिक साहसी हो गया था और एक परिपक्व आदमी की तरह मेरे परिपक्व मांसल स्तनों को दबाने और सहलाने लगा था । मैं बेशर्मी से अपने हाथों को हवा में उठाकर खड़ा हुई थी और मैंने अपने स्तनों पर उसके दबाव का आनंद लिया।

नंदू: हाँ, मौसी, अब मैं अपने हाथों पर आपके ह्रदय का कंपन महसूस कर सकता हूँ? मुझे लगता है कि कॉकरोच ने आपके शरीर को छोड़ दिया है या ये अभी भी आपके ऊपर है ?

मैं ( सोनिआ भाभी): मुझे नहीं पता?. पर जब से तुमने मेरे स्तनों पर हाथ रखे है तब से ये शांत हो गया है आआआआआइइइइइइइइइइइ।

नंदू: क्या हुआ मौसी ? क्या आपने इसे फिर से महसूस किया?

मैं ( सोनिआ भाभी): हाँ, हाँ नंदू! अब यह मेरी नाभि पर है। आआआआ?. सससस हाय ये फिर चलने लगा है ?.


जारी रहेगी
Reply
03-30-2022, 04:25 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
Eagerly waiting for the next instalments ! Best story ever
Reply
03-31-2022, 11:20 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि क...
Very nice story I also want to post my story
Reply
04-05-2022, 07:47 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक

अपडेट-18


तिलचट्टे की खोज



सोनिआ भाभी ने अपनी रजोनिवृति के बाद की आप-बीती बतानी जारी रखी

मैं (सोनिया भाभी ) : जब मैंने ये कहा की नंदू तिलचट्टा अब यह मेरी नाभि पर है। और ये फिर से चलने लगा है तो नंदू ने जल्दी से मेरे स्तन से हाथ हटा लिए और हाथ मेरे पेट पर लेजाकर यह पता लगाने की कोशिश की कि मेरे पेट पर तिलचट्टा कहाँ है। जैसे ही उसके ठंडे हाथों ने मेरे उदर क्षेत्र को छुआ, मुझे बहुत अच्छा लगा। इतने दिनों के बाद एक नर का हाथ मुझे वहाँ छू रहा था! नंदू ने मेरे पूरे नंगे पेट को दोनों हाथों से सहलाया कर तिलचट्टे को ढूंढने की कोशिश की , लेकिन वो तिलचट्टे का पता लगाने में असमर्थ था। मेरे लिए चीजें वास्तव में गर्म हो रही थीं। मैं महसूस कर सकती थी कि मेरी योनि की मांसपेशियां स्वेच्छा से सुकुड़ रही थी क्योंकि उसकी उंगलियां मेरे पेट से योनि क्षेत्र की तरफ जा रही थी ।

नंदू: मौसी, हमें रोशनी करनी चाहिए, नहीं तो इस तिलचट्टे को पकड़ पाना या हटाना असंभव है।

मैं (सोनिया भाभी ): तुम बिलकुल नकारा हो और मुझे निराश कर रहे हो! तुम मेरे शरीर पर एक तिलचट्टा भी नहीं खोज सकते!

मैंने उसे जानबूझ कर चिढ़ाया ताकि वह मुझे और छूने के लिए प्रेरित महसूस करे।

नंदू: लेकिन मौसी, मैं इसे इस अंधेरे में कैसे ढूंढूं? मुझे बताओ कि यह अभी कहाँ है?

मैं (सोनिया भाभी ): मुझे नहीं पता। नंदू! अब मैं इसे महसूस नहीं कर सकती . आप जांच क्यों नहीं करते? मेरा मतलब है कि मेरे पूरे शरीर को ऊपर से नीचे तक चेक करो ? फिर निश्चित रूप से आप इसे ढूंढ लोगो और फिर आप इसे थप्पड़ मार देना ।

नंदू: ठीक है मौसी, जैसा आप कहती हो ।

मैं (सोनिया भाभी ): अब मेरा दिल ढोल की तरह धड़क रहा था कि नंदू फिर से मेरी दूध की टंकियों को पकड़ लेगा और उम्मीद के मुताबिक वह उस काल्पनिक तिलचट्टे की खोज में मेरे कंधे से शुरू करते हुए अपनी दोनों हथेलियों मेरे बदन पर फेरने और सहलाने लगा और धीरे-धीरे नीचे आ गया। उसने मेरे गहरे यू-गर्दन वाले ब्लाउज के ऊपर से मेरे उजागर मांस को छुआ और इस बार जैसे ही उसने स्तनों को छुआ और उसने हथेली में थामा, मैंने उसकी हथेलियों पर अपनी ओर से थोड़ा जोर दिया ताकि वह मेरे टाइट मांस पर बेहतर पकड़ बना सके। उसने जकड़न को महसूस करते हुए अपनी अंगुलियों से मेरे स्तनों को पकड़ा और दबाया और फिर मेरे पेट की ओर नीचे चला गए, हालांकि मैं चाहती थी को वो मेरे गोल स्तनों पर अपना हाथ हमेशा के लिए रखे और उन्हें सहलाये दबाये और निचोड़े खींचे । मेरा पेट पहले से नंगा था क्योंकि मैंने बहुत पहले अपनी साड़ी का पल्लू फर्श पर गिरा दिया था और उसने मेरे उदर क्षेत्र को सहलाया और मेरी नाभि सहित मेरे पूरे नग्न पेट को महसूस किया।

नंदू: इसका कोई पता नहीं चला मौसी! अब क्या करें?

मैं (सोनिया भाभी ): और नीचे खोजो !.

मैंने महसूस किया कि नंदू अंधेरे में नीचे को झुक रहा है और जैसे ही वह मेरे सबसे निजी क्षेत्र को छूने वाला था, वहाँ एक रुकावट आ गयी !

गायत्री: बीवी-जी, क्या आपको मोमबती जलाने के लिए माचिस मिली?

मेरी नौकरानी शायद डाइनिंग हॉल से मुझे पुकार रही थी। मुझे तुरंत होश आ गया क्योंकि अगर वह एक जलती हुई मोमबत्ती लिए अंदर आती और दरवाजा खोलती तो उसे अपने जीवन का सबसे बड़ा झटका लगता और वो देखती की मेरा मेरा पल्लू पर गिरा हुआ है मैं खड़ी हुई हूँ और नंदू दोनों हाथों से मेरे शरीर को सहला रहा है ।

मैं (सोनिया भाभी ): नंदू, मुझे लगता है कि तुम ठीक कह रहे हो ! मैं कमरे से बाहर निकल कर एक मोमबत्ती ले कर आती हूँ ।

नंदू: मैंने तो आपसे पहले ही ये कहा था !

मैंने झट से उसे अपने शरीर से दुर धकेला और अपनी साड़ी का पल्लू उठाकर उससे अपने भारी स्तनों को ढकते हुए अपने कंधे पर रख लिया।

मैं (सोनिया भाभी ): गायत्री, ठीक है, मैं मैनेज करती हूं, आप खाना बनाना जारी रखो ।

हालांकि मैं उस समय बेहद उत्तेजित थी, लेकिन मैंने अपनी आवाज को सामान्य बनाये रखने की कोशिश की।

गायत्री: ठीक है बीवी-जी।

मैं यह देखने के लिए कि गायत्री कहाँ है , जल्दी से कमरे से बाहर निकली और यह देखकर कि वह रसोई की ओर जा रही है, मैंने जल्दी से माचिस और मोमबत्ती उठाई और मोमबत्ती जलाकर कमरे में नंदू को दे दी ।

नंदू: मौसी, क्या आपको कॉकरोच मिला?

मैं (सोनिया भाभी ): क्या कॉकरोच ओह! वह तिलचट्टा! हां, हां, जब मैंने मोमबत्ती जलाई तो मैंने उसे थप्पड़ मार दिया

नंदू: वो मर गया क्या ?
मैं (सोनिया भाभी ) : नहीं वो भाग गया ।

नंदू: कहाँ था?

मैं (सोनिया भाभी ): यहा था! मेरा मतलब है कि यह साड़ी पर था? यहां।

मैं (सोनिया भाभी ) फिर रश्मि! मैंने अपनी टांगो की और इशारा किया और किचन की तरफ चली गयी । किचन में सब नॉर्मल था देखकर मैं टॉयलेट गयी । अब मुझे बहुत पसीना आ रहा था। जैसे ही मैंने शौचालय का दरवाजा बंद किया, मैं दीवार के सहारे झुक गई और अपनी साड़ी को कमर तक उठा लिया। मैंने तुरंत अपने दाहिने हाथ की मध्यमा उंगली को अपनी चुत में डाल दिया, लेकिन मुझे आश्चर्य हुआ क्योंकि मैंने अपनी योनि को काफी सूखा पाया! मैंने सोचा था कि इतने लंबे समय के बाद यह मौका पाकर मैं जमकर हस्तमैथुन करूंगी और इसका लुत्फ उठाऊंगी .

मैं बहुत निराश हुई थी । मैं महसूस कर रही थी कि यह निश्चित रूप से मेरी रजोनिवृत्ति की स्थिति के कारण था, लेकिन मैं बुरी तरह से चाहती थी कि मेरी योनि गीली और फिसलन भरी हो ताकि मैं उसमें अपनी उंगली डाल हस्थमैथुन कर थोड़ी संतुष्टि अनुभव कर सकूं। मेरी चूत के भीतर स्राव कम से कम था और मुझे अचानक अपने चोली के भीतर गीलापन महसूस हुआ। मैंने झट से अपनी साड़ी को अपने घुटनों पर गिरा दिया और अपना ब्लाउज खोलने लगी कि पता लगे की मामला क्या है। मुझे पिछले कुछ हफ्तों से निप्पल जो डिस्चार्ज हो रहा था क्या वही मुझे अब हो रहा था?

मैं (सोनिया भाभी ) : ईससस ?

मैं (सोनिया भाभी ) जैसे ही मैंने अपनी चोली को खोला, मैं अपने आप से बुदबुदायी । मेरे निप्पल गंध वाले चिपचिपे तरल पदार्थ का काफी निर्वहन कर रहे थे और उसकी गंध बहुत अच्छी नहीं थी! मैंने अपने स्तनों को दोनों हाथों में पकड़ा और डिस्चार्ज के लिए एरोला पर दबाव डाला, लेकिन वो पदार्थ अपने आप अपनी हो लय में बाहर आ रहा था। मैंने प्रवाह के समाप्त होने का इंतजार किया और उसके बाद अपने नग्न स्तन, विशेष रूप से अपने सूजे हुए निपल्स के आसपास की जगह को तौलिये से पोंछा ।मैं अपनी साड़ी को उठाकर शौचालय की सीट पर बैठ गयी मेरे स्तन खुले में लटक रहे थे उन पर कोई आवरण नहीं था क्योंकि मेरे ब्लाउज के बटन और ब्रा हुक दोनों खुले हुए थे। मैंने शर्म महसूस करते हुए उन्हें एक हाथ से ढँक दिया, क्योंकि मैं उस हालत में बहुत ही बेशर्म लग रही थी । फिर मैंने पेशाब करने के बाद मैं एक मिनट तक वही सीट पर बैठी रही क्योंकि मुझे योनि में भी कुछ ऐंठन भी हो रही थी। मुझे अधूरापन महसूस हो रहा था? क्योंकि मुझे डिस्चार्ज नहीं हुआ था, जो मेरे लिए बहुत निराशाजनक था।

आगे उस दिन कुछ खास नहीं हुआ। 15-20 मिनट में बिजली वापस आ गई और मनोहर भी समय से पहले वापस आ गए थे, क्योंकि इस असमय बिजली कटौती के कारण उनका खेल भी खराब हो गया था।


जारी रहेगी
Reply
04-05-2022, 07:48 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक- दूसरा दिन

अपडेट-1

नहलाने की तयारी




सोनिआ भाभी ने अपनी रजोनिवृति के बाद की नंदू के साथ अपनी आप-बीती बतानी जारी रखी

दूसरा दिन

मैंने (सोनिया भाभी ) देखा कि नंदू काफी जल्दी सीख रहा था और कल कॉकरोच प्रकरण के दौरान अंधेरे में अपने हाथों से उसने मेरी दूध की टंकियों को दबाया और महसूस किया था उसके बाद से वह शारीरिक रूप से मेरे करीब होने के लिए और अधिक उत्सुक था। सच कहूं तो मैं भी यही चाहती थी और उसके करीब आने के मौके तलाशने लगी ।

मैं (सोनिया भाभी ): नंदू, छी ! यह क्या है? क्या आप नहाते समय ठीक से साबुन नहीं लगाते हो ?

नंदू सोफे पर सिर्फ पजामा और बनियान पहने ही लेटा हुआ था । मनोहर भी वहां अखबार पढ़ रहा था। नंदू के शरीर का ऊपरी आधा हिस्सा खुला हुआ था।

नंदू: क्या मौसी ?

मैं (सोनिया भाभी ): इस्सस ! मैंने नंदू की गर्दन और कंधे की ओर इशारा किया वहां गंदगी का निशान था । यहां इतनी गंदगी जमा हो गई है। क्या आप ठीक से नहाते नहीं हो और साबुन नहीं लगाते हो ?

नंदू: लगाता हूँ मौसी?

मेरे पति ने अब हमारी बातचीत सुनकर ऊपर देखा।

मनोहर : ओह! आप महिलाये ना?

मैं(सोनिया भाभी ) : आप बीच में मत बोलो ! जरा उसकी गर्दन के पिछले हिस्से को देखो! इतने सारे काले धब्बे!

मनोहर ने अब गंभीरता से नंदू की गर्दन की ओर देखा ।

मनोहर: हम्म, लेकिन मुझे कोई दिखाई नहीं दे रहा है?

मैं (सोनिया भाभी ): हुह! आपको कैसे दिखाई देगा ? आप अपना चश्मा ठीक से लगाओ !

मनोहर: ओहो?. हा हा हा?

मैं (सोनिया भाभी ): नंदू, मुझे कोई बहाना नहीं सुनना है। जब तुम नहाने के लिए जाओ तो बस मुझे बुला लेना । मैं तुम्हे रगड़ कर साफ कर दूँगी ।

मनोहर : अगर तुमने ऐसा नहीं किया तो नंदू तुम्हारी खैर नहीं ? हो हो हो?

नंदू और मनोहर दोनों हंस रहे थे और मैं एक नकली गुस्सा दिखाते हुए वहां से निकल गयी । मैंने रसोई से देखा कि मनोहर फिर से अखबार पढ़ने में लग गया और नाडु टीवी देख रहा था ।

मैं खुश थी कि मेरे पति को मेरा प्रस्ताव अजीब नहीं लगा? और इसलिए अब अगला प्लान लागू करने का मौका आ गया था !

मैं अब बेसब्री से इंतजार कर रही थी । नंदू नहाने जाने वाला था। मैंने देखा कि उसने अपने सूटकेस से बनियान, पायजामा और अंडरवियर का एक नया सेट ले लिया।

मैं (सोनिया भाभी ): नंदू मैं पहले रबिंग करूँगी और फिर आप अपना स्नान जारी रख सकते हो ।

नंदू: ठीक है, जैसा आप कहे मौसी ।

मैंने देखा कि मेरा पति मनोहर दीवान पर ताश खेलने में व्यस्त था। मैं बाथरूम की ओर चल दि । नंदू पहले से ही बाथरूम के अंदर था। मैंने शौचालय का दरवाजा खटखटाया और नंदू ने तुरंत उसे खोला वह मेरे अंदर आने का इंतजार कर रहा था ! उसने एक बड़ी मुस्कान के साथ मेरा स्वागत किया और मैं पहले से ही मैं अपने दिल की धड़कन को तेजी से सुन रही थी । हमारा बाथरूम काफी छोटा था और उसमे जगह की कमी थी।

मैं: ओह! आपने अभी तक नहाना शुरू नहीं किया है? आप क्या कर रहे थे?

नंदू: अरे? कुछ नहीं मौसी। मैं बाल्टी भर रहा था।

मैं उसकी पैंट के नीचे पहले से ही उभार देख रही थी !

मैं: ठीक है, ठीक है। मेरा समय बर्बाद मत करो। मुझे अभी भी रसोई में बहुत कुछ करना है। अपने शरीर को जल्दी से गीला करो।

नंदू: एक सेकंड मौसी, मुझे तौलिया पहनने दो।

मैं: नहीं, नहीं, पूरा तौलिया गीला हो जाएगा ?

नंदू: फिर?

मैं: क्या आपने नीचे शॉर्ट नहीं पहना है?

नंदू: हाँ?

मैं: तो बस वही पहन लो। मैं उसे तुम्हारे शार्ट के साथ ही धो दूंगी ।

नंदू: ओ? ये ठीक रहेगा मौसी ।

नंदू ने अपनी बनियान और पायजामा तेजी से उतार दी और अपनी शार्ट में ही मेरे सामने खड़ा हो गया। मैं अपनी बूढी होती हुई आँखों से उनके नन्हे कोमल शरीर को वस्तुतः चाट रही थी ? उसकी सपाट छाती, उसके छोटे लाल-भूरे रंग के निपल्स, उसकी वी-आकार की वसा रहित ऊपरी शरीर संरचना और, और निश्चित रूप से, उसका उभरा हुआ मध्य क्षेत्र । नंदू ने अपने स्पष्ट उभार को छिपाने के लिए अपने ब्रीफ को समायोजित करने की कोशिश की, लेकिन ऐसा करने में असमर्थ रहा । मुझे उसकी हरकत पर बहुत मज़ा आया और मैंने पल्लू को ठीक करने के बहाने अपने बड़े स्तनों को प्रकट करने के लिए अपने पल्लू को एक बार पूरी तरह से अपने कंधों से हटाकर आग में तेल डाल दिया।

मैं: अब अपने शरीर को गीला करो।

नंदू: लेकिन? लेकिन मौसी, आप भी भीग जाओगी ।

मैं क्यों?

नंदू: वहाँ? मेरे लिए और आप के लिए बहुत कम जगह है । कमोड इतना करीब है।

मैं: हम्म? तुम ठीक कह रहे हो नंदू।

नंदू : मौसी आपकी साड़ी गीली हो जाएगी.

मेरी नसों में खून तेजी से बह रहा था और मेरा दिल तेजी से धड़क रहा था और मैं आसानी से उस किशोर के सामने बेशर्म होने के लिए त्यार थी ।

मैं: ठीक है, रुको। मुझे बस अपनी साड़ी खोलने दो?

मैंने नंदू के सामने खड़े होकर अपनी साड़ी खोलनी शुरू की। स्वाभाविक रूप से वह मेरे इस चिर हरण प्रदर्शन का आनंद ले रहा था और मैं उसके छोटे से ब्रीफ के तहत उभार में हो रही वृद्धि देख रही थी । जब मैंने अपनी साड़ी खोली, तो मैं बस उसकी ओर मुड़ी, ताकि वह भी मेरी पूरी कसी हुई उभरी हुई गांड का आकलन कर सके। मैंने साड़ी को दरवाजे के हुक पर टिका दिया और मैं अब सिर्फ ब्लाउज और पेटीकोट में नंदू के सामने खड़ी थी ।

मैं: ठीक है, अब मेरी साड़ी सुरक्षित है। अब तुम नहाना शुरू कर सकते हो?


जारी रहेगी
Reply

04-05-2022, 07:49 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7 - पांचवी रात

फ्लैशबैक- दूसरा दिन

अपडेट-2

नहलाने की कहानी




सोनिआ भाभी ने नंदू को नहलाने की कहानी बतानी शुरू की

सोनिआ भाभी बोली नंदू ने मेरी बात मानते हुए सिर हिलाया और मग से अपने शरीर पर पानी डालने लगा। वह हमारे छोटे से शौचालय के भीतर मुझसे इतनी निकटता में था कि नंदू ने मुझसे दूरी बनाए रखने की कोशिश की पर भी पानी के छींटे मेरे शरीर को गीला कर रहे थे। उसने 3-4 मग पानी डाला और फिर मेरी ओर मुड़ा।

नंदू: मौसी, अब आप मुझे साबुन लगा सकती हो।

उसका गीला शरीर देखकर मैं और उत्तेजित होने लगी थी। उसका कच्छा भी अब आंशिक रूप से गीला हो गया था जिससे उसका अर्ध-खड़ा हुआ लंड कच्चे के अंदर से ही आपने जीवंत होने का आभास दे रहा था। मैं उस जीवंत मांस को पकड़ने के लिए बहुत उत्सुक थी।

मैं (सोनिया भाभी) : यह नंदू क्या है? मुझे तुम्हारे टांगो पर भी गंदगी दिखाई दे रही है! क्या तुम साबुन बिल्कुल नहीं लगाते हो!

नंदू: लेकिन मौसी? मैं साबुन लग्गता हूँ? अगर फिर भी गंदगी नहीं जाती है, तो मैं क्या कर सकता हूँ?

मैं (सोनिया भाभी) : यानी आप साबुन को ठीक से नहीं रगड़ते हो। हुह!

मैं अब साबुन लेकर नंदू की ओर बढ़ी।

मैं (सोनिया भाभी) : नन्दू! पीछे मुड़ो।

नंदू की पीठ अब मेरे सामने थी। मैंने साबुन को पानी में भिगोया और उसके कंधों को सहलाने लगी। जैसे ही मैंने उसकी नग्न त्वचा को छुआ, एक कंपकंपी मेरे शरीर से गुजर गई। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं अपने पति के बहुत करीब हूँ। मैं उस शापित घोड़े की सवारी कर रही थी जो पहले ही वर्जित दुनिया में प्रवेश कर चुका था। मैं जोर-जोर से सांस ले रही थी और मेरा पूरा शरीर गर्म हो रहा था।

मैं (सोनिया भाभी) : ईश! नंदू तुम्हारे शरीर पर कितनी गंदगी है नंदू? मुझे आज पूरी अच्छे से सफाई करने दो।

नंदू: ठीक है मौसी।

मैंने उसके कंधों को साबुन के पानी से रगड़ना पूरा किया और फिर धीरे से उसकी पीठ को मला। मैं उसकी त्वचा और उसकी युवा जीवंत मांसपेशियों को महसूस कर रही थी। उसके कंधो और पीठ पर मेरे गर्म, कोमल हाथों के स्पर्श ने जरूर उसके अरमानो को भी जगाया होगा क्योंकि मैं महसूस कर रही थी कि वह बार-बार सिकुड़ रहा था और अपने शरीर को हिला रहा था।

मैं (सोनिया भाभी) : अब, मेरी ओर मुड़ो, नंदू।

नंदू मुझसे आँख नहीं मिला रहा था। मैं उस समय काफी अश्लील दिख रही थी क्योंकि मैं उसके शरीर को रगड़ने के लिए झुक रही थी और मेरे ब्लाउज के ऊपर से मेरे स्तनों की पूरी दरार नजर आ रही थी और नंदू की आँखे वहीँ टिकी हुई थी। मैंने उसके सीने पर हाथ रख दिया।

मैं (सोनिया भाभी) : आह? ।

मैंने नंदू के सीने पर हाथ फिरायेा और मैं अपने भीतर बड़बड़ायी। नंदू का सीना कितना अच्छा है! नंदू का सीना बालों के विकास की पतली परत के साथ चिकना और सपाट था। मैं उसकी धड़कनों को अपनी हथेलियों पर स्पष्ट रूप से महसूस कर रही थी जो स्पष्ट रूप से बता रहा था कि वह मेरे स्पर्श से निश्चित रूप से उत्साहित था। कुल मिलाकर, वास्तव में यह एक अद्भुत एहसास था! एक बार मैंने उनके चेहरे पर नज़र डाली और जैसे ही हमारी नज़रें मिलीं, मेरा चेहरा शर्म से लाल हो गया। नंदू ने भी तुरंत मेरे चेहरे से अपनी आंखें हटा लीं। चीजों को और अधिक आकर्षक बनाने के लिए, मैंने अपने छोटे सख्त निपल्स पर जोर देकर उसकी छाती पर रगड़ा। मैंने नंदू की छिपी इच्छाओं को जगाने के लिए उसके निप्पल को बहुत धीरे से घुमाया।

नंदू: आह्ह्ह्ह्ह मौसी! आप क्या कर रही हो?

मैं (सोनिया भाभी) : क्या हुआ? क्या मैंने आपको चोट पहुँचाई? दर्द हुआ क्या?

बात करते हुए मैंने जान-बूझकर उसके सख्त निप्पल पर अपनी उँगलियाँ दबाईं।

नंदू: नहीं, मेरा मतलब है कि मुझे मौसी गुदगुदी हो रही है।

मैं (सोनिया भाभी) : हुह! नंदू! इस में नया और अजीब क्या है? मुझे भी ऐसा ही लगता है जब आपके मौसा-जी मुझे उस क्षेत्र में दबाते हैं।

मैंने उसके सख्त निपल्स को घुमाते हुए सीधे उसकी आँखों में देखा, लेकिन वह मेरी अपेक्षा से अधिक शरारती निकला!

नंदू: फिर मौसी, क्या आप भी ठीक से साबुन नहीं लगाती हो और मौसा-जी को साबुन लगाना पड़ता है!

नंदू अब मेरी आंखों के संपर्क को नजरअंदाज करते हुए मेरे ब्लाउज से ढके बड़े स्तनों को सीधे देख रहा था। वह स्पष्ट रूप से मेरे स्तनों के मांस और उफनते दरार वाले शो पर नजर गड़ाए हुए था और शायद मेरे निप्पलों को खोज रहा था जो थोड़ा-थोड़ा कड़े हो रहे थे। मैं थोड़ा असमंजस में थी कि क्या जवाब दूं।

मैं (सोनिया भाभी) : नहीं, ऐसा नहीं है! मुझे अपने शरीर को साफ करने के लिए किसी की मदद की जरूरत नहीं है।

नंदू: लेकिन? लेकिन आपने अभी यही तो कहा था!

मुझे समझ नहीं आ रहा था कि नंदू यह मासूमियत से पूछ रहा है या मुझे शर्मिंदा करने की कोशिश कर रहा है। उसका चेहरा और आंखें इतनी मासूम थीं कि मेरे लिए विश्वास करना मुश्किल था कि वह मेरे साथ खेल रहा है!

जारी रहेगी
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Heart Chuto ka Samundar - चूतो का समुंदर sexstories 671 4,872,543 05-14-2022, 08:54 AM
Last Post: Mohit shen
Star Antarvasna Sex Story - जादुई लकड़ी desiaks 61 98,406 05-10-2022, 03:48 AM
Last Post: Yuvraj
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 40 234,516 05-08-2022, 09:00 AM
Last Post: soumya
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 22 384,949 05-08-2022, 01:28 AM
Last Post: soumya
Star XXX Kahani मेरा सुहाना सफर-कुछ पुरानी यादें desiaks 339 351,673 04-30-2022, 01:10 AM
Last Post: soumya
Star XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता desiaks 54 162,177 04-11-2022, 02:23 PM
Last Post: desiaks
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 40 176,354 04-09-2022, 05:53 PM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 248 2,018,749 04-05-2022, 01:17 PM
Last Post: Nil123
Star Free Sex Kahani परिवर्तन ( बदलाव) desiaks 30 159,617 03-21-2022, 12:54 PM
Last Post: Pyasa Lund
  Chudai Story हरामी पड़ोसी sexstories 30 244,854 03-20-2022, 12:55 AM
Last Post: Samar28



Users browsing this thread: 12 Guest(s)