Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
11-20-2022, 10:26 PM,
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे
औलाद की चाह

CHAPTER 7-पांचवी रात

चंद्रमा आराधना

अपडेट-11


बादल आ गए .


गुरुजी मेरी पीठ की तरफ गए और फिर मेरी बाहों को मेरी छाती के सामने मोड़ दिया, और साथ में उन्होंने तुरंत अपने विशाल लिंग को मेरी दृढ़ गोल गांडकी दरार में डाल दिया। उसने मुझे पीछे से इस तरह दबाया कि मेरी पूरी गाण्ड उसके लंड और योनि क्षेत्र पर दब गयी और उनका चेहरा मेरे चेहरे और कंधे को छू रहा था। उन्होंने कुशलता से अपनी बाहों को मेरी कांख के माध्यम से अपने हाथों को मेरे हाथों के नीचे प्रार्थना मुद्रा में रखा औ । यह ऐसी मुद्रा थी जो निश्चित रूप से किसी भी महिला के लिए समझौता करने वाली मुद्रा थी, लेकिन उस समय मैं बहुत उत्साहित थी इसलिए मैंने उसके बारे में कुछ नहीं सोचा !

गुरु जी ने कुछ मंत्र बड़बड़ाया, [परन्तु मुझे केवल उनके हाथों में दिलचस्पी थी, जो मेरे पूर्ण विकसित स्तनों के ऊपर आ गए थे और मेरी बड़ी गाण्ड पर एक साथ अपने खड़े लंड के साथ एक प्रहार के साथ उन्होंने मेरे स्तनों को साइड से पर्याप्त रूप से दबा दिया था? धीरे-धीरे मैंने महसूस किया कि उसकी उंगलियाँ मेरे हाथों पर रेंग रही थी , जो उन्होंने ने प्रार्थना के रूप में पकड़ी हुई थीं और हट कर मेरे स्तनों पर जा कर टिक गयी थी ! चूँकि गुरुजी मेरी पीठ पर ज़े मेरे साथ चिपके हुए थे उनकी बाहें मेरी कांख के नीचे से गुजर रही थीं, वे निश्चित रूप से मेरा और अधिक शोषण करने के लिए बहुत फायदेमंद स्थिति में थे।

जब उन्होंने मंत्र फुसफुसाया, मुझे लगा कि वह फिर से मेरे तने हुए स्तनों को दोनों हाथों से सहला रहे थे । मैं अपनी भावनाओं को छिपाने की कोशिश कर रही थी, लेकिन इस बार उन्होंने मुझे नॉकआउट कर दिया ।

मैं: आह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह! ओरे! उई माँ!

मुझे अपनी बाहों को थोड़ा सा धक्का देना पड़ा, क्योंकि मुझे लगा कि गुरु-जी मेरे स्तन ऊपर उठाने की कोशिश कर रहे हैं और मुझे एहसास हुआ कि उनकी एक बार फिर मेरी चोली में अपनी उंगलियां डालने की योजना है! मेरी गीली चोली और ब्रा लगभग नहीं के बराबर थी और पलक झपकते गुरु जी की उंगलिया सीधे मेरे निप्पल तक जा सकती थीं! फिर पहली बार गुरु जी ने मेरे निप्पल को ब्लाउज से अंदर तक छुआ और मेरी हालत थी बस मजा आ गया ऊऊह ला ला!

स्वचालित रूप से मैं बहुत अधिक चार्ज थी और मेरे बड़ी गांड धे को उनके खड़े डिक पर जोर से फैला और दबा रही थी । मैं अपने लिए चीजों को और अधिक रोमांचक बनाने के लिए गुरु-जी से कुछ छोटे-छोटे धक्को को भी महसूस कर सकती थी ! उन्होंने मेरे दोनों निप्पलों को पकड़ा और घुमाया और धीरे से चुटकी बजाई, जिससे मैं बिल्कुल जंगली हो गयी । मैंने महसूस किया कि गुरु-जी अपनी हथेलियों को मेरी चोली में धकेल रहे थे और मुझे संदेह था कि उनके हाथ के दबाव से मेरी तंग और गीली चोली फट जाएगी! मैं स्पष्ट रूप से महसूस कर रही थी कि वो मेरी गीली ब्रा को मेरे स्तन से ऊपर धकेल रहे थे ताकि वो मेरे नग्न स्तन बेहतर तरीके से महसूस कर सकें ।

मेरी आँखें बंद थीं; मेरे निपल्स हिल रहे थे मेरी चूत किसी भी चीज़ की तरह लीक हो रही थी और मेरा पूरा शरीर यौन उल्लास में कांप रहा थाऔर ऐंठ रहा तह । ऐसा लग रहा था कि मैं इस विशेष बाथटब में गुरु-जी द्वारा पूरी तरह से टटोलने और महसूस करने के लिए एक स्वप्न देख रही थीऔर महसूस कर रही थी , फिर अचानक एक रुकावट आई! मैंने गुरु जी संजीव को ज़ोर से पुकारते और गुरु जी को कुछ कहते हुए सुना!

धत्तेरे की! इस अद्भुत बिल्डअप का क्या ही लापरवाह अंत हुआ !

गुरु जी ने जल्दी से मेरी चोली से हाथ हटा कर बाहर देखा। मैं भी कुछ हद तक सतर्क थी मैं अभी भी एक अल्पविराम अवस्था में थी । मैंने देखा कि टब अब पूरी तरह से खाली था! पानी नहीं था ! बिल्कुल नहीं! दूध भी निकल गया था . मुझे पता ही नहीं चला कि कब उसमें से पानी निकाल दिया गया! मेरा पूरा शरीर अपेक्षित रूप से भीग रहा था और स्वाभाविक रूप से मेरे गीले कपड़े मेरी गरिमा को बचाने के लिए पर्याप्त नहीं थे।

संजीव गुरु जी ?

गुरु जी : हाँ? हाँ, क्या है संजीव ?

संजीव: गुरु-जी, मैंने देखा कि बादल चाँद को ढक रहे हैं। हमें योनि पूजा करने में कठिनाई होगी।

गुरु जी : अरे नहीं! मैंने यह नोटिस नहीं किया। हमें जल्दी करनी होगी ! मुझे जागरूक करने के लिए धन्यवाद, संजीव ।

अब वो कैसे नोटिस कर सकते थे ? वह मेरे 27 वर्षीय जवानी को उत्तेजित करने से लीन थे !

गुरु-जी: बेटी, तुम आधी पूजा पूरी कर चुकी हो और यज्ञ के अंत में चाँद निकला होना चाहिए। लेकिन अगर बारिश हुई तो चीजें आपके लिए ही मुश्किल होंगी! तो चलिए जल्दी करते हैं और योनि पूजा के लिए चलते हैं।

सच कहूं तो उस समय मेरा मन चंद्रमा या महायज्ञ के बारे में सोचने में मेरी कोई दिलचस्पी बिल्कुल भी नहीं थी , मैं केवल भौतिक सुख पाने के लिए उत्सुक थी । लेकिन मेरे पूर्ण आश्चर्य के लिए, गुरु-जी मुझे छोड़ पूजा करने की तैयारी कर रहे थे और बाथटब से बाहर निकलने वाले थे!

एक सामान्य आदमी ऐसा कैसे कर सकता है? मैंने स्नान के दौरान कई बार अपने शरीर पर उनके कठोर लंड को स्पष्ट रूप से महसूस किया और जिस तरह से उन्होंने मेरे स्तनों को सहलाया और दबाया, यह स्पष्ट रूप से दर्शाता है कि वो भी यौन रूप से उत्तेजित थे! लेकिन? लेकिन उन्होंने इसकी कोई भी परवाह नहीं की और मुझे इतने आराम से चुदाई किये बिना छोड़ दिया?. यह अच्छी तरह से जानते हुए भी कि अगर उसने मुझे बाथटब के अंदर नग्न कर चोद दिया होता तो भी मुझे कोई आपत्ति नहीं होती!

मैं सोच रही थी की क्या मैं इतनी आकर्षक नहीं हूँ कि गुरु जी का पूरा ध्यान आकर्षित कर सकूँ? मेरा मन अंधी गलियों में भटक रहा था . इस बीच मैंने देखा कि उनका छे फीट से भी लंबा ढांचा टब से बाहर निकल रहा है!

मैं: गुरु जी? कृपया?

मैं धीरे से कराह उठी ; गुरु जी ने एक बार पीछे मुड़कर मेरी आँखों की ओर देखा और टेढ़ी भौहों से मुझे एक तीखी नज़र से देखा और टब से बाहर निकल आए।

मैंने देखा कि उन्होंने उदय और संजीव से कुछ कहा है। उन्होंने सिर हिलाया। फिर उदय ने उन्हें एक नई धोती थमा दी और मुझे पूर्ण आश्चर्य हुआ जब गुरु जी ने सूखी धोती पहनने के लिए अपनी गीली धोती हम सबके सामने खोल दी। मैंने कभी किसी आदमी को इस तरह कपड़े बदलते नहीं देखा था! हवा में एक बड़े पके केले की तरह लटके हुए अपने मोटे लंड के साथ वो पूरी तरह से नग्न थे ! गुरुजी ने अपने नंगे खड़े लंड को अपने दाहिने हाथ से सहलाया, एक बार मेरी तरफ देखा, और फिरनई सूखी धोती को जल्दी से अपनी कमर पर लपेट लिया।

वह आसानी से एक तौलिये का इस्तेमाल कर सकते थे , लेकिन उन्होंने सब कुछ इतनी लापरवाही से किया कि जैसे वहाँ कोई अन्य मौजूद ही नहीं है!

संजीव: महोदया, आप भी बाहर आ आओ।

मैं अभी भी अपने मन में गुरु-जी के विशाल आकार के लंड की कल्पना कर रही थी ।

संजीव: महोदया, आओ।

हालांकि मैं पूरी तरह से उब चुकी थी और चुदाई के लिए तैयार थी और मुझे अपनी चुत में कड़े मांस की जरूरत थी, मुझे संजीव की आवाज का जवाब देना पड़ा। मैं धीरे-धीरे टब से बाहर निकली । रात में ओस की बूंदों के कारण घास गीली थी। यह मेरे नंगे पैरों के नीचे बहुत अच्छा लगी । लेकिन अचानक जैसे ही मैंने सामने देखा तो पाया मेरे सामने खड़े दोनों पुरुषों की लंबी भूखी निगाहों मुहे घूर रही थी और उनकी निगाहो ने मुझे अवगत कराया कि मैं अपने छोटे गीले कपड़े में उनके सामने उजागर हो गयी थी ।

जब मैंने नीचे अपनी ड्रेस को देखा तो मैंने पाया कि मेरी चोली में से मेरी स्ट्रैपलेस ब्रा दिखाई दे रही थी क्योंकि गुरु जी ने उसे सहलाते हुए उसे हटा दिया था और मुझे बेशर्मी से दो पुरुषों के सामने इस हालत में आना पड़ा। मैंने किसी तरह अपने तने हुए स्तनों को बाहर से चोली के प्यालों में धकेल दिया और चोली को कुछ हद तक सभ्य दिखने के लिए समायोजित किया। मुझे जल्द ही एहसास हुआ कि मेरी गीली स्कर्ट मेरे नितंबों पर बंधी हुई थी और मेरी पैंटी पीछे से पूरी तरह से उजागर हो गई थी! मैंने अपने नितम्बो को पूरी तरह से ढकने के लिए इसे तेजी से समायोजित कर बहाल किया।

उदय: मैं चलता हूँ , महोदया, क्योंकि मुझे योनि पूजा के लिए चीजों की व्यवस्था करनी हैं । निर्मल किसी भी क्षण यहाँ आपके और संजीव के पास आ जाएगा ।

उदय वहां से चला गया और मैं अब संजीव के साथ खुले में अकेली खड़ा थी। मैंने देखा कि चाँद घने काले बादलों से छिपा हुआ था। शायद जल्द ही बारिश होने का आसार था क्योंकि ठंडी हवा भी चल रही थी।

संजीव : महोदया, आप यहां बदलेंगी या कमरे में चलेंगी?

मैं क्या?

संजीव: मेरा मतलब?

निर्मल: मैडम,आप कैसी हो? आपका स्नान कैसा रहा मैडम?

बौना निर्मल वहां आ गया था! उसकी उपस्थिति ने मुझे उस समय सबसे ज्यादा परेशान किया। मेरे स्तन मेरी गीली ब्रा और ब्लाउज के नीचे तने हुए थे और मेरी पैंटी अच्छी तरह से टपक रही थी। मैं बात करने की स्थिति में नहीं थी , खासकर एक और परिपक्व पुरुष से! मैंने देखा कि वह मेरे उजागर शरीर को घूर रहा था और ऐसा लग रहा था कि वह मुझे अपनी लालची आँखों से ही खा जाएगा।

मैं: स्नान ओ ठीक था ! अब

संजीव: महोदया, क्या आप यही बदलोगी ?

संजीव ने अपना प्रश्न दोहराया।

मैं: यहाँ? खुले में?!?

संजीव: हमसे शर्माओ मत मैडम। हम सभी अब लिंग महाराज के शिष्य हैं।

मैं: लेकिन?

संजीव: क्या आपने हमारे सामने गुरु-जी को बदलते नहीं देखा?

मैं: हाँ? हाँ लेकिन?। (मैं इसे कैसे भूल सकता हूं? उनका महा-लंड ! उफ्फ्फ! बहुत बढ़िया और लम्बा बड़ा लिंग !)



जारी रहेगी



Last edited: May 3, 2022

दीपक कुमार
Reply


Messages In This Thread
RE: Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे - by aamirhydkhan - 11-20-2022, 10:26 PM

Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Bhai Bahan Sex Kahani भाई-बहन वाली कहानियाँ desiaks 119 875,531 11-17-2022, 02:48 PM
Last Post: Trk009
Lightbulb Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड desiaks 110 2,041,990 11-15-2022, 03:27 AM
Last Post: shareefcouple
  बहू नगीना और ससुर कमीना sexstories 143 1,472,912 11-14-2022, 10:30 PM
Last Post: dan3278
Tongue Maa ki chudai मॉं की मस्ती sexstories 72 942,031 11-13-2022, 05:26 PM
Last Post: lovelylover
Sad Hindi Porn Kahani अदला बदली sexstories 63 764,113 10-03-2022, 05:08 AM
Last Post: Gandkadeewana
Lightbulb Behan Sex Kahani मेरी प्यारी दीदी sexstories 46 1,013,928 09-13-2022, 07:25 PM
Last Post: Ranu
Star non veg story नाना ने बनाया दिवाना sexstories 109 1,004,811 09-11-2022, 03:34 AM
Last Post: Gandkadeewana
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 23 698,447 09-10-2022, 01:50 PM
Last Post: Gandkadeewana
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 42 497,296 09-10-2022, 01:48 PM
Last Post: Gandkadeewana
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 46 263,067 08-27-2022, 08:42 PM
Last Post: aamirhydkhan



Users browsing this thread: 34 Guest(s)