बहू नगीना और ससुर कमीना
06-10-2017, 10:19 AM,
#91
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
उधर राकेश और शिवा में बातें हो रहीं थीं । राजेश का आख़िर साल था । अगले साल वो इंजीनियर बन जाएगा। वह अपनी पढ़ाई और नौकरी की बातें कर रहा था। 

शिवा: देखो नौकरी बस ३/४ साल ही करना। फिर अपना काम शूरु करना। जो मज़ा अपने काम में है वो नौकरी में कहाँ। फिर इधर उधर की बात करके शिवा पूछा: कोई गर्ल फ़्रेंड बनायी या नहीं? देखो पार्क में क्या हो रहा है? 

पार्क में रोमैन्स का माहोल था। जगह जगह लड़के लड़की चिपके हुए थे। और चूमा चाटी चल रही थी। 

राकेश: नहीं जीजा जी नहीं बनाई। मुझे लड़कियों में कोई इंट्रेस्ट नहीं है। 

शिवा: अरे वो क्यों? गे हो क्या? 

राकेश: धत्त आप भी ना। पर मैं अभी पढ़ाई पर ध्यान दे रहा हूँ। तभी वहाँ से एक अधेड़ बहुत सुंदर थोड़ी मोटी सी औरत एक लड़के के साथ गुज़री। दोनों ने हाथ पकड़े हुए थे । शिवा ने देखा कि अब राकेश में एक अजीब सा परिवर्तन आ गया था। उसकी आँख लाल हो गयी थी और साँस भी तेज़ चलने लगी थी। वो कुछ सोचा और उस औरत और लड़के के पीछे हो लिया। राकेश भी उसके साथ चला जा रहा था। शिवा ने नोटिस किया कि राकेश की आँखें उस जोड़े से हट ही नहीं रही थी। 

वो जोड़ा एक सूनी सी जगह में एक बेंच पर बैठ गए। शिवा और राकेश आगे बढ़ गए। पर थोड़ी दूर जाकर शिवा घूमकर पीछे से आया और उस जोड़े के पीछे एक पेड़ की ओट में छुप गया और राजेश को भी छुपा लिया। शिवा ने देखा कि राकेश बहुत उत्तेजित था और उसकी साँस बहुत तेज़ चल रही थी। शिवा हैरान हुआ कि इतनी देर से जवान जोड़ों को देखकर तो इसे कुछ नहीं हुआ पर इस बेमेल जोड़े को देखकर ये तो आपे से बाहर ही हुए जा रहा है। 

तभी वो लड़का बोला: चाची आज आप बहुत सुंदर दिख रही हो। स्लीव्लेस ब्लाउस में आप बहुत सेक्सी दिखती हो? 

औरत: चल हट बदमाश। मैं देख रही हूँ आजकल ज़्यादा ही बोलना सीख गया है। ये कहकर वो इधर उधर देखी और किसी को ना पा कर वो उसके होंठ चूम ली। अब वो लड़का भी अपनी बाँह उसके कंधे पर रखा और उसके कंधे और बाँह सहलाने लगा। शिवा ने कनख़ियों से देखा तो राकेश के पैंट में एक ज़बरदस्त तंबू बन गया था और वो उसको पकड़कर दबा रहा था ।राकेश उससे क़रीब ४/५ साल ही छोटा था। 

उधर लड़के ने अपना हाथ औरत के ब्लाउस के अंदर कर दिया और उसकी चूचि दबाने लगा। वो औरत हाय्ययय करने लगी और उसका हाथ लड़के के पैंट के ऊपर उभार पर गया और वो उसको दबाने लगी। अब शाम हो चली थी थोड़ा अँधेरा भी हो रहा था। अब लड़के ने कहा: चाची अपनी साड़ी उठाओ ना। बुर सहलानी है। 

वो बोली: बेटा कोई आ गया तो? 

लड़का: अरे चाची कोई नहीं है यहाँ। प्लीज़ साड़ी उठाओ ना। आप ऐसा करो खड़ी हो जाओ साड़ी उठाकर। कोई आएगा तो नीचे कर लेना। 

शिवा ने राकेश को देखा और वो दंग रह गया । उसकी आँखें वहीं पर जमी थीं। और उसका लौड़ा बाहर आ गया था और वो उसे मूठिया रहा था। अच्छा ख़ासा ७ इंच का मोटा और बहुत गोरा लौड़ा था। तभी वो औरत खड़ी हुई और अपनी साड़ी ऊपर करली। उसकी पीठ लड़के के सामने थी। 

लड़के ने उसके बड़े बड़े गोरे मोटे चूतरों को दबाया और फिर बीच में मुँह डालकर उसको आगे झुका कर उसकी बुर चाटने लगा। वो सामने को झुक कर आऽऽऽऽह करके अपनी बुर चटवा रही थी। अब लड़के से नहीं रहा गया और वो अपने पैंट से अपना लौड़ा बाहर निकाला और उसकी बुर में पीछे से ही पेल दिया अब वो उसको चोदने लगा। शिवा ने देखा कि राकेश की हालत बहुत ख़राब हो रही थी उत्तेजना से । तभी राकेश मुट्ठी मारकर झड़ने लगा। उसका गाढ़ा वीर्य पेड़ से टकरा कर नीचे गिरने लगा। 

उधर अचानक दो लड़के से आ गए और उस लड़के को और औरत को धमकाने लगे। वो औरत थर थर काँप रही थी और लड़का भी अपनी पैंट की जीप बंद कर रहा था। वो दो लड़के बोले: तुमको पुलिस में देंगे। वरना जितना पैसा और ज़ेवर है हमको दे दो। साफ़ लगता है की ये बुढ़िया तुमको फंसा कर तुम्हारी जवानी को लूट रही है। अरे छोड़ो इसे हम तुमको बढ़िया जवान माल दिलाएँगे 

लड़का: आप इनको सब दे दो। वरना कहीं इन्होंने शिकायत कर दी और घर में पता चल गया तो आफ़त आ जाएगी। 

औरत: हाँ हाँ सब ले लो। बस हमें जाने दो। 

शिवा समझ गया था कि ये गुंडे थे और इनका काम ही यही है की पैसे लूटो ब्लैकमेल करके। वो राकेश को बोला: चलो हम इनकी मदद करते हैं। वो दोनों बाहर आए और शिवा गरज कर बोला: क्या है बे? कमिनो चलो भागो यहाँ से । वरना पुलिस तुम नहीं मैं बुलाऊँगा। 

शिवा की क़द काठी देखकर वो दोनों घबरा गए और देख लूँगा कहते हुए भाग गए। 

वो औरत रोने लगी और बोली: थैंक्स बेटा आज आप लोगों ने हमको बचा लिया। 

लड़का: आपका बहुत बहुत धन्यवाद। सच में आप दोनों देवदूत बन कर आए हो।

शिवा: देखो हमने आप दोनों को मज़ा लेते देखा था और हम जानते हैं कि आप चाची और भतीजा हो। मैं चाहता हूँ कि आप थोड़ी देर यहाँ बैठो और हमें अपने रिश्ते के बारे में बताओ। देखो हम एक दूसरे को नहीं जानते और ना ही जानना चाहेंगे। पर अगर आपने मेरी बात नहीं मानी तो मुझे भी पुलिस को सब बताना होगा। 

उन दोनों के चेहरे का रंग उड़ गया। वो सोचे कि ये क्या नई मुसीबत खड़ी हो गयी है। औरत रुआंसी होकर बोली: बेटा हमें जाने दो। हमें माफ़ कर दो। 

शिवा: देखिए आप मुझे ग़लत समझ रहे हो। मैं आपको सिर्फ़ कुछ समय के लिए रोक रहा हूँ। असल में मैं एक लेखक हूँ। मैं ये समझना चाहता हूँ कि आख़िर वो क्या परिस्थिति है जिसने आप चाची और भतीजे को ये सब कुछ करने पर मजबूर कर दिया ? 

राकेश हैरानी से जीजा को देख रहा था। तभी शिवा थोड़ी सख़्त आवाज़ में बोला: बैठिए आप दोनों। वो दोनों डर के बैठ गए। 

शिवा: अब जल्दी से अपनी आप बीती सुना दो। 

लड़का: भय्या हम एक संयुक्त परिवार में रहते है। बचपन से ही मैं अपने परिवार में सबका सेक्स देखा हूँ। पापा मम्मी का, ताया जी और ताई जी का और इन चाची और चाचा जी का भी। मैंने हमेशा ये नोटिस किया की चाची जी संतुष्ट नहीं होती थी चाचा जी से। इस लिए मैंने इनको ही निशाना बनाया। और ये भी प्यासी थीं तो आराम से मेरी बाहों में आ गयीं। बस इतनी सी ही बात है। 

शिवा: नहीं तुमने अभी पूरी बात नहीं बताई है। सच सच बोलो कि तुम क्या सिर्फ़ इनको ही चोदना चाहते थे? या किसी और को भी? 

लड़के ने सिर झुका कर कहा: हाँ मैं अपनी मम्मी को ही चोदना चाहता था। पर वो नहीं तो चाची ही सही। 

औरत: ओह तभी ये कभी कभी मुझे करते हुए माँ माँ बोलता है। 

शिवा ने राकेश को देखा जिसका चेहरा एक बार फिर से उत्तेजना से भर गया था । शिवा ने देखा कि उसके पैंट में फिर से टेंट बन गया था। 

शिवा : देखो मेरा ये दोस्त कभी चुदाई नहीं देखा है। आप दोनों एक बार उसे चुदाई दिखा दो तो वो भी सीख जाएगा। 

औरत इसका विरोध करते हुए बोली: ये कैसे हो सकता है? 

शिवा: देखिए आपको पूरा नंगी होने की ज़रूरत नहीं है। आप जैसा कर रहे थे वैसा ही कर लो। 

लड़का: चाची हमको देर हो रही है। एक बार कर लो फिर हम घर जा सकेंगे। 

औरत: मुझे बड़ी शर्म आ रही है। 

लड़का: प्लीज़ चाची जल्दी से कर लो। यह कहते हुए अपनी पैंट का जीप खोल कर अपना नरम लौड़ा बाहर निकाला और चाची को सामने बैठा कर उसके मुँह के पास अपना लौड़ा ले आया।चाची थोड़ा सा हिचकिचाई फिर उसे चूसने लगी। राकेश आँखें फाड़े हुए चाची को देख रहा था। अब लड़के का लौड़ा पूरा खड़ा हो गया था।उसने ब्लाउस में हाथ डालकर वो उसकी चूचियाँ मसलने लगा। अब वो चाची को खड़ा किया और उसको पहले जैसे ही झुकाया और उसकी साड़ी उठाकर उसकी बुर में लौड़ा डाल दिया। चाची: आऽऽऽऽऽऽह बेटाआऽऽऽ धीरे से। हाऽऽऽऽऽय उग्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ ।

लड़का ज़ोर ज़ोर से चोदे जा रहा था और बड़बड़ा रहा था: आऽऽऽहब माँ लो मेरा लंड आऽऽऽहब लो माँआऽऽऽ लोओओओओओ। मेंएएएएएरा लंड । 

राकेश की आँखें फटी जा रहीं थीं कि ये क्या हो रहा है। ये लड़का माँ माँ चिल्लाए जा रहा है। उफ़्फ़। अब वो फिर से अपना लौड़ा दबाने लगा। 

उधर लड़का अब माँआऽऽऽऽऽ हम्म कहकर झड़ने लगा। चाची भी उइइइइइइ कहकर झड़ गयी। दोनों एक दूसरे से चिपके हुए थे। फिर वो अलग हुए और चाची ने अपनी साड़ी को नीचे किया। और अपनी साड़ी से बुर को दबाकर शायद उसने अपनी गीली बुर को साफ़ किया पेटिकोट से। लड़का भी रुमाल से अपना लौड़ा साफ़ करके उसको अंदर किया । अब वो बोला: अब हम जाएँ ? 

शिवा: हाँ भाई अब जाओ। धन्यवाद । 
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply

06-10-2017, 10:19 AM,
#92
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
दोनों जल्दी से वहाँ से भाग गए। अब शिवा और राकेश भी वहाँ से वापस जाने लगे। राकेश को चलने में बहुत मुश्किल हो रही थी क्योंकि टाइट जींस में उसका खड़ा लौड़ा उसको बहुत तंग कर रहा था। 

रास्ते में शिवा बोला: तो देखा दुनिया कितनी अजीब है? वो चाची को चोद रहा था और बोले जा रहा था मॉ मॉ। मानो मॉ को ही चोद रहा हो। 

राकेश: हाँ सच में ऐसा ही था। पर एक बात बताओ आपने उनको सेक्स करने को क्यों कहा? मैंने तो आपको कुछ ऐसा कहा नहीं था कि मैं वो सब देखना चाहता हूँ। 

शिवा: याद है मैंने पूछा था कि तुम्हारी गर्ल फ़्रेंड है क्या? तुमने कहा कि नहीं। पर उसकी समय तुम चाची और उसके भतीजे को देखकर कितना उत्तेजित हो गए थे। मैं समझ गया कि तुमको बड़ी उम्र की औरतें पसंद हैं। बोलो सही कहा ना? 

राकेश: जी जीजा जी। सच है। 

शिवा: बताओ तुम क्यों बड़ी उम्र की औरतों को पसंद करते हो? 

राकेश: मैं आपको नहीं बता सकता। 

दोनों बातें करते हुए घर को आ रहे थे।

शिवा को याद आया कि सरला बोली थी कि बच्चों को शायद पता है कि वो श्याम से चुदती है। वह बोला: तो तुमने अपनी मम्मी को किसी के साथ देखा है। यही ना ? 

अब वो बुरी तरह से चौका और बोला: जीजा जी आपको कैसे पता? 

शिवा: तुमने मम्मी को ताऊ जी के साथ देखा है ना। 

राकेश अब सन्न रह गया। वो बोला: हे भगवान ! आपको कैसे पता? 

शिवा का गेस सही बैठा था। वो बोला : तो तुमने अपनी मम्मी को ताऊजी के साथ कितनी बार देखा होगा अब तक? 

राकेश: मैंने गिना नहीं। पर कई बार देखा है। 

शिवा: एक बात पूछूँ ? ग़ुस्सा नहीं होना। क्या तुमको अपनी मम्मी का नंगा बदन पसंद है ? 

राकेश धीरे से : हाँ बहुत। 

शिवा: ओह, तो क्या तुम अपनी मम्मी को चोदना चाहते हो? 

राकेश चलते चलते रुक गया। अब वो उसे उदासी से देखा और बोला: मेरे जवाब से क्या फ़ायदा? जो हो नहीं सकता वो आप मुझसे क्यों पूछ रहे हैं? 

शिवा: घबराओ मत। मैं भी कभी अपनी मम्मी को चोदना चाहता था। पर वो बीमार होकर भगवान के पास चली गयी। 

शिवा: मेरी बात का साफ़ साफ़ जवाब दो राकेश, क्या तुम अपनी मम्मी को चोदना चाहते हो या नहीं? 

राकेश: हाँ हाँ चोदना चाहता हूँ। और मैं उनके पीछे पागल सा हूँ। 

शिवा: ओह चलो कोई बात नहीं। कम से कम तुम्हारे दिल की बात का पता तो चला।चलो अब इसके लिए कुछ करेंगे। 

राकेश : क्या करेंगे? 

शिवा मुस्कुरा कर: देखो ये तो समय ही बताएगा चलो अब घर आ गया है। आज की बात का ज़िक्र किसी से नहीं करना। 
वैसे रात को कितने बजे सोते हो? 

राकेश: ऐसा कोई तय समय नहीं है। क्यों पूछ रहे हैं ? 

शिवा: मैं तुमको एक मिस्ड काल करूँगा और तुम अपनी मम्मी के कमरे की खिड़की पर आ जाना। और चुप चाप देख लेना अपनी मम्मी की चुदाई। 

राकेश सन्न रह गया और कांपते हुए बोला: क्या आप मम्मी को चोदेंगे?

शिवा: हाँ आज मैंने उनको दोपहर को जब तुम फ़िल्म देखने गए थे तब चोदा था और आज रात भर चोदूँगा 

राकेश उत्तेजना से अपना लौड़ा दबाकर : आऽऽह क्या दीदी को इसका पता है? 

शिवा मुस्कुराकर: नहीं अभी तक तो नहीं। 

राकेश अपना लौड़ा दबाकर: उफफफफफ मैं ज़रूर आऊँगा।

शिवा और राकेश घर में घुसते है और सामने सरला आकर बोलती है: कहाँ थे दोनों? मुझे चिंता हो रही थी। 

शिवा: अरे मम्मी यहीं पास में पार्क में टहल रहे थे 

सरला: चलो अब डिनर लगा रहीं हूँ । सब लोग बैठो ।
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply
06-10-2017, 10:19 AM,
#93
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
डिनर करते हुए मालिनी और लड़कियाँ मस्ती करती रहीं। अब सब खाना खाके थोड़ी देर गप शप मारे फिर सोने चले गए। मालिनी को शिवा के साथ एक कमरा मिल गया था। 
शिवा कपड़े बदलते हुए बोला: तो आज बहुत मस्ती हुई बहनों के साथ? 

मालिनी: हाँ आज बहुत मज़ा आया। लड़कियाँ बड़ी हो गयीं हैं और शरारती भी। 

शिवा: बड़ी तो हो गयीं हैं । मुन्नी में अभी भी बचपना है। 

मालिनी: हाँ वो अभी छोटी भी तो है। 

शिवा अब सिर्फ़ चड्डी में था और उसका मस्त भरा हुआ बदन देखकर मालिनी की बुर ऐसी हालत में भी गरम होने लगी।
शिवा बोला: वैसे मुन्नी शरीर से तो बड़ी हो गयी है। उसके दूध भी काफ़ी बड़े दिख रहे थे इस बार। कोई BF है क्या जो दबाकर बड़ा किए जा रहा है? अब उसका लौड़ा आधा तन गया मुन्नी के दूध का साइज़ सोच कर। मालिनी हँसकर बोली: देखो आपका तो खड़ा होने लगा, उसके दूध का सोचकर। 

शिवा हँसते हुए लोअर पहना और बोला: अब क्या करे बिचारा , दो दिन से प्यासा है। तुमने तो लाल झंडी लगा रखी है।

मालिनी बड़े प्यार से बोली: ओह बिचारा। लाओ चूस देती हूँ। 

शिवा आज चूसवाना नहीं चाहता था क्योंकि उसे सरला को चोदना था। इसके पहले कि वो कुछ कहता दरवाज़े में आवाज़ आयी और वो अपनी टी शर्ट भी पहन लिया। तभी सरला अंदर आइ और दो गिलास दूध का लाई। उसने एक गिलास शिवा को दिया और एक मालिनी को दिया। दोनों दूध पीते हुए बातें करने लगे और सरला बोली:मैंने राजीव जी को बता दिया था कि तुम लोग कल सुबह आओगे। 

शिवा: थैंक्स मम्मी जी। मालिनी का ध्यान टी वी पर था और शिवा अपने लौड़े का शेप लोअर से सरला को दिखाया और इशारा किया कि ये कब तक सो जाएगी? 

सरला: अच्छा बेटी अब तुम दोनों आराम करो मैं चलती हूँ। वो शिवा को आँख मारी। 

शिवा बाथरूम में जाकर शॉवर लिया और बाहर आया तो मालिनी बोली: मुझे बहुत नींद आ रही है । आपको लौड़ा चूसवाना है तो जल्दी करो। 

शिवा: अरे जान तुमको नींद आ रही है तो सो जाओ यार। इसको कल चूस देना। 

मालिनी: सच आप बहुत अच्छे हो। चलो मैं सोती हूँ । गुड नाइट। 

जल्दी ही वह गहरी नींद में समा गयी। अब शिवा उठा और बाहर आया और राकेश के कमरे में गया। वह अभी भी पढ़ाई कर रहा था। उसको देखकर वो बोला: आप जा रहे हो मम्मी के कमरे में? 

शिवा: हाँ मैंने सोचा की क्या मिस्ड कॉल करूँ , इसलिए तुमको बताने ही आ गया। चलो अब शो चालू करता हूँ। अपनी मम्मी को मुझसे चुदता देख लो। 

राकेश खड़ा हुआ और उसका लोअर पूरी तरह से सामने से उठा हुआ था। शिवा उसकी हालत देखकर मुस्कुराया और बाहर जाकर उसको एक खिड़की के पास खड़ा किया और बोला: मैं अंदर से खिड़की खोलता हूँ तुम पर्दा हटा कर देखना। राकेश ने हाँ में सर हिलाया। शिवा कमरे में दाख़िल हुआ और सरला को एक करवट सोते पाया। उसकी बड़ी सी गाँड़ उसकी तरफ़ थी। वो चुपचाप जा जाके खिड़की को धीरे से थोड़ा सा खोला और जाकर बिस्तर पर बैठ कर सरला को निहारने लगा। कमरे में नाइट लैम्प जल रहा था। उसने एक सेक्सी गाउन पहना था। उसे शायद इंतज़ार करते हुए नींद आ गयी थी। उसकी आधी चूचियाँ गाउन से बाहर झाँक रहीं थीं। वो मस्ती से उसे देखा और फिर खिड़की की तरफ़ देखा। वहाँ उसे परदे के पीछे एक हल्की सी परछाईं दिखाई दी । वो समझ गया कि राकेश अपनी जगह ले चुका है। वो मन ही मन मुस्कुराया। आज एक बेटा अपनी माँ को अपने दामाद से चुदते देखेगा। वो ये सोचकर गरम हो गया। 

उसे लगा कि चोदने से ज़्यादा मज़ा तो ये सोच कर आएगा कि बेटा अपनी माँ को चुदते देख रहा है। अब उसने सरला के कमर से लेकर उसकी बग़ल से होकर उसके बाँह सहलाते हुए उसके गाल सहलाए। सरला हिली और उठकर बोली: बड़ी देर कर दी। मेरी शायद आँख लग गयी थी। 

शिवा झुककर उसके गाल चूमा और बोला: मम्मी ,मालिनी के सोने का तो इंतज़ार करना ही था ना। 

सरला: मैं ज़रा बाथरूम से फ़्रेश हो कर आती हूँ। तुम कपड़े उतारो। वह उसे चूमकर उठी और बाथरूम में चली गयी। शिवा ने लोअर और शर्ट उतारी और चड्डी में बिस्तर पर बैठ गया। 
थोड़ी देर में सरला बाहर आयी और बोली: क्या बात है शर्म आ रही है चड्डी उतारने में ? 

शिवा: नहीं मम्मी आप उतारोगी तो ज़्यादा मज़ा आएगा । वह पलंग के हेड बोर्ड के सहारे बैठा था। अब सरला उसके पास आयी और उसकी छाती में अपना सिर रख कर उसकी छाती के बालों से खेलने लगी। वह भी उसके मुँह को ऊपर किया और उसके होंठ चूमने लगा। दोनों क़रीब दस मिनट तक एक दूसरे के होंठ से चिपके रहे और जीभ चूसते रहे। शिवा के हाथ उसकी चूचियों और कमर और चूतरों पर घूम रहे थे। अब वो बोला: मम्मी इस सेक्सी नायटी में आप बहुत मस्त दिख रही हो। ज़रा गाँड़ मटका कर चल के दिखाओ ना। 

सरला हँसती हुई खड़ी हुई और कमरे में एक कोने से दूसरे कोने तक अपनी गाँड़ हिला हिला कर चल कर दिखाई। उफफफफ क्या फाड़ू माल दिख रही थी। भरे बदन पर सेक्सी नायटी और उसके अंदर से उसके हिलते वक्ष और हिलते चूतर, किसी हिजड़े को भी मर्द बना सकते थे। शिवा और राकेश दोनों की हालत ख़राब हो रही थी। राकेश ने तो अपना लौड़ा बाहर निकाल लिया था। उधर शिवा का भी लौड़ा चड्डी से बाहर आकर झाँक रहा था। 

शिवा: मम्मी प्लीज़ गाउन उतार दो ना सेक्सी तरीक़े से । नीचे क्या पहना है आपने? 

सरला: ख़ुद ही देख लेना कि नीचे क्या पहना है। हा हा ।
अब वह गाउन की रस्सी खोली और धीरे धीरे गाउन को अपने कंधे से नीचे को खिसखाई। उफफफ जैसे जैसे उसका बदन नंगा होता जाता, उसका गोरा बदन ग़ज़ब ढा रहा था। जब गाउन उतरा तो नीचे उसने एक सेक्सी ब्रा और उससे भी ज़्यादा सेक्सी पैंटी पहनी थी। 
राकेश के लौड़े ने अपनी माँ को इस रूप में देखकर झटका मारा और उसे लगा कि वो अभी झड़ जाएगा। उग्फ़्फ़्फ़्फ़ क्या मस्त रँडी लग रही थी वो। अब शिवा बोला: मम्मी अब एक बार फिर से चलकर दिखाओ ना प्लीज़। 

वो हँसकर अपनी गाँड़ मटका कर फिर से चल कर दिखाई। सामने से उसकी ब्रा में से निपल बाहर निकले थे एक जाली से । उसकी बड़ी बड़ी छातियाँ उस छोटी सी ब्रा में आधी भी नहीं छुप रहीं थीं। उसकी पैंटी के सामने हिस्से में एक जाली से उसकी बुर आधी नंगी दिख रही थी। पीछे का तो क्या कहना। सिर्फ़ एक रस्सी उसके चूतरों के दरार में फँसी हुई थी। उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ उसके बड़े बड़े चूतर बुरी तरह से मटक रहे थे। वो तो जैसे पागल हो गया।राकेश अब अपने लौड़े को मुठियाने लगा। अब शिवा बोला: मम्मी एक बढ़िया गाना लगाता हूँ। आप डान्स करो प्लीज़। उसने मोबाइल में धीमी आवाज़ में - बिड़ी जला ले --बजाया। और फिर सरला ने एक ऐसी हरकत की जो दोनों मर्दों को पागल करने के लिए काफ़ी थी। वो अपनी छातियों को किसी रँडी की तरह हिलाकर और अपनी गाँड़ को भी मटका कर नाचने लगी। उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ क्या दृश्य था । शिवा के लौड़े ने प्रीकम छोड़ना शुरू किया। और बाहर राकेश का वीर्य ही झड़ गया। बिना आवाज़ के आऽऽऽहहह करे वो अपने रुमाल में पोंछा । 

शिवा अब मस्ती में आकर अपना लौड़ा बाहर निकाला और राकेश ने देखा कि उसका लौड़ा उसके हथियार से काफ़ी बड़ा है। वह अब देखा की शिवा भी अपना लौड़ा मूठिया रहा था। 

अब शिवा बोला: मम्मी अब पूरी नंगी हो जाओ और एक बार फिर से नाचो। 

सरला हँसकर बोली: आज पूरी रँडी बनाने का मूड है बेटा। चल ये भी कर देती हूँ। अब वो अपनी ब्रा धीरे से खोली और ब्रा के कप को एक हाथ से पकड़कर उसको और ललचाई । फिर उसने ब्रा फेंक दी। अब उसकी बड़ी बड़ी गोरी चूचियाँ उसके नज़रों के सामने थी। वह अब अपनी पैंटी नीचे को करी और धीरे से नीचे खिसका कर अपनी पैंटी शिवा के ऊपर फेंक दी। शिवा उसको नाक के पास लेज़ाकर सूँघने लगा। और बोला: हम्म मम्मी मस्त गंध है आपकी बुर की। फिर वह उसको अपने लौड़े पर रगड़ने लगा। अब शिवा ने फिर से गाना लगाया और वो अब अपनी चूचियाँ हिलाकर और गाँड़ मटका कर नाचने लगी। 
राकेश ने कभी नहीं सोचा था कि मम्मी को इस हालत में भी देखेगा। 

शिवा अब मस्ती में आकर उठा और नंगा ही उसके साथ उसको अपने से सटा कर नाचने लगा। दोनों हँसते हुए बिस्तर पर गिर गए। अब शिवा उसके ऊपर आकर उसके होंठ चूसने लगा। फिर वो उसकी चूचियाँ दबाकर मस्ती से उनको चूसने भी लगा। अब सरला उठी और उसको लिटा कर उसके जाँघों के बीच में आकर उसके लौड़े को क़रीब बीस मिनट तक चूसी और चाटी और डीप थ्रोट भी दी। वह पूरे समय उसके बॉल्ज़ को सहलाती भी रही। राकेश को मम्मी का मुँह साफ़ साफ़ ऊपर नीचे होते दिखाई दे रहा था उसके लौड़े के ऊपर। वो अब फिर से मूठ्ठ मारने लगा था। 

अब शिवा बोला: मम्मी ६९ करोगी? 

सरला मुस्कुराई और ख़ुद ही उलटा होकर शिवा के ऊपर आ गयी और फिर से उसका लौड़ा चूसने लगी। अब शिवा भी उसकी बुर के फाँकों को फैलाकर उसके गुलाबी छेद को चाटने लगा। उफफफफ राकेश सोचा कि जिस छेद से मैं बाहर आया हूँ वहीं जीजा जी मुँह घुसेडे हुए हैं। अचानक राकेश ने देखा कि शिवा अब उसकी भूरि सी मख़मली गाँड़ का छेद भी चाट रहा था। अब सरला आऽऽहहह उइइइइइइ माँआऽऽऽ कहकर और ज़ोर से लौड़ा चूस रही थी। राकेश का बुरा हाल था। वो इस सबके किए तय्यार नहीं था। 

अब वह सरला को बोला: मम्मी अब रुका नहीं जा रहा है। चलो चुदाई करते हैं। उस दिन जैसे आप पहले चढ़ जाओ मुझ पर। 
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply
06-10-2017, 10:19 AM,
#94
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
सरला अब उसके ऊपर चढ़ी और कमर उठाकर उसके लौड़े को अपनी बुर में डालकर चुदवाने लगी। शिवा अब उसकी बड़ी बड़ी चूचियाँ दबाकर नीचे से लौड़ा उछालकर उसको मज़े देने लगा। राकेश की आँखें मम्मी की बुर में अंदर बाहर हो रहे लौड़े पर थी। उफफफफ कैसे बुर का मुँह खुलता और लौड़ा अंदर चला जाता था और फिर वह जब बाहर आता था तो बुर का छेद साफ़ साफ़ दिखता था ।उफ़ गुलाबी बुर कैसे इतना बड़ा लौड़ा निगले जा रही थी। मम्मी की भूरि गाँड़ का छेद भी उत्तेजना से खुलता बंद होता दिख रहा था। तभी राकेश ने देखा कि शिवा ने अपनी ऊँगली मम्मी की गाँड़ में डाल दिया और उसको हिलाने लगा। अब मम्मी की चीख़ें और मस्ती से भर कर आती हुई सिसकारियाँ राकेश को मानो पागल किए जा रहा था। 

वो चिल्लाई: आऽऽऽऽऽहहह और जोओओओओओर से चोओओओओओओओदो। फ़ाआऽऽऽऽऽऽड़ दो बेएएएएएएटा। 

राकेश उत्तेजित हो कर ज़ोर ज़ोर से हाथ चलाने लगा। तभी उसने देखा कि शिवा अब मम्मी की चूचियाँ चूस रहा था। अब मम्मी बोली: बेटा अब ऊपर आकर चोद दे ना। 

शिवा अब उसको नीचे लिटाया और ऊपर आकर उसकी बुर चोदने लगा। जल्दी ही सरला बड़बड़ाने लगी : आऽऽऽऽहहह बहुत अच्छा लग रहा है। हाऽऽयययग ऊं ऊं ऊं करके हर धक्के में वह ऊं ऊं करके चिल्ला रही थी। 

अब सरला आऽऽऽह्ह्ह्ह्ह करके झड़ने लगी। शिवा ने अब अपना लौड़ा निकाला और राकेश को दिखाकर उसने अपना पूरा गीला लौड़ा मम्मी के मुँह में दे दिया । वो उसे चूसने लगी। अब जल्दी ही वो ह्न्म्म्म्म कहकर उसके मुँह में झड़ने लगा। राकेश ने आँखें फाड़कर देखा कि मम्मी का मुँह इसके सफ़ेद गाढ़े वीर्य से भर गया था और होंठों के कोनों से बाहर निकल रहा था। वो अब लौड़ा बाहर निकाला और उसके आँख, नाक और गाल में भी अपना वीर्य गिराया। सफ़ेद रस में सनी मम्मी किसी रँडी से कम नहीं लग रही थी। 

राकेश अब दूसरी बार मूठ्ठ मारने लगा और झड़ गया। शिवा अब उसके बग़ल में लेट गया । फिर सरला अपना मुँह पोंछकर उठी और बाथरूम से फ़्रेश होकर आयी। अब दोनों साथ में बैठकर बातें करने लगे। शिवा ने देखा कि राकेश अब वहाँ से हट गया था। वो समझ गया कि वो जो देखना था देख चुका है। अब शिवा बोला: मम्मी अब नींद आ रही है। एक बार और चुदवाएँगी क्या? 

सरला: नहीं बेटा अब बहुत थक गयी हूँ। 

शिवा: तो मैं मालिनी के साथ जाकर सोता हूँ। सुबह जाना भी तो है। 

सरला उसको चूमकर बोली: ठीक है बेटा। जाओ अब सो जाओ। वो उठकर बाहर आया और जाकर राकेश के कमरे में गया। तभी सरला को भी प्यास लगी तो वो किचन की ओर गयी और अचानक उसने राकेश के कमरे में बात करने की आवाज़ सुनी। वो सोची कि इस समय राकेश किससे बात कर रहा है? वो चुपचाप उसके कमरे की खिड़की के पास खड़ी होकर देखी कि कौन है राकेश के कमरे में। 

वो अंदर झाँकी और हैरान रह गयी क्योंकि वह और कोई नहीं शिवा था। वो उनकी बात सुनने लगी। वो जो सुनी तो सन्न रह गयी। 
शिवा: तो मज़ा आया मम्मी की चुदाई देखने में? 

राकेश: जीजा जी आप क्या चुदाई किए उफफफफ मैं तो पागल ही हो गया। 

शिवा: तुमने देखा कि वो कैसे रँडी की तरह नंगी होकर नाच रही थी। 

सरला को लगा कि वो जैसे कोई सपना देख रही है। ये क्या हो रहा है? उसका दामाद उसकी चुदाई उसके अपने बेटे को दिखा रहा था । उसे शिवा पर बहुत ग़ुस्सा आया। 

राकेश: आऽऽऽऽह वो दृश्य तो मैं सारी ज़िंदगी में कभी नहीं भूलूँगा। क्या चूचि और गाँड़ हिला हिला कर नाचे जा रहीं थी। 
उफफफफ क्या सेक्सी है मम्मी। 

सरला तो जैसे शॉक में ही आ गइ। ये उसका अपना बेटा क्या बोल रहा है। 

शिवा: देखा क्या मस्ती से चुदवाती है? गाँड़ उछाल कर। 

राकेश: हाँ जीजा जी, सच में बहुत चुदक्कड है मम्मी। उफ़फ़्फ़ क्या मज़ा ले रहीं थीं । गाँड़ उछाल कर चुदवाने का मज़ा ली है। 

शिवा : वैसे उनकी बुर और गाँड़ का स्वाद बहुत मस्त है। चाटकर मस्ती आ जाती है। 

राकेश: हाँ उनकी बुर और गाँड़ दोनों मस्त हैं। और एक बात बताऊँ उनकी चूचियाँ आपके हाथ में आती नहीं थी इतनी बड़ी हैं। 

सरला सोची कि उसका बेटा और दामाद उसके बारे में कैसी कैसी बात कर रहे हैं। उसको बड़ी शर्म आयी। 

राकेश बोले जा रहा था: जीजा जी वो आपका रस भी कितने प्यार से पी गयीं। उगफफ बहुत ही गरम माल है मम्मी जी। 

सरला चौकी कि उसका बेटा उसे गरम माल कह रहा था। 

तभी शिवा की बात से वो एकदम से सकते में आ गयी। शिवा बोल रहा था: देख राकेश अब तू देख लिया ना कि मम्मी जी कितनी गरम है और उनको कितना मज़ा आता है चुदवाने में? अब तुम्हारी बारी है उनको पटाने की। मैं तो कल चला जाऊँगा वापस। अब तुम कोशिश करके उनको पटाओ और उनको चोदने का अपना सपना साकार करो। और हाँ मैं कल सुबह तुम्हारी सिफ़ारिश कर दूँगा। 

राकेश: सिफ़ारिश करेंगे कैसे? 

शिवा: मैं उनको समझाऊँगा कि तुम उनको बहुत प्यार करते हो और उनको चोदना चाहते हो। वह समझ जाएँगी। 

राकेश: आपको लगता है कि ये इतना आसान होगा? 

शिवा: मैं उनसे तेरी सिफ़ारिश करूँगा। अच्छा एक काम करना तुम कल सुबह मम्मी को किचन में जाकर पीछे से पकड़ लेना और अगर वो तुमसे छूटने की कोशिश नहीं करें तो समझ लेना कि वो पट गयी है। ठीक है? 

राकेश अपने लौड़े को दबाकर बोला: आऽऽऽह मेरा तो सोच कर ही खड़ा हो गया। फिर मम्मी के पास वापस जाना पड़ेगा। 

राकेश: दीदी की ले लीजिए, वो भी तो है। 

शिवा: अरे उसका पिरीयड्ज़ आया हुआ है। मम्मी की ही लेता हूँ और तुम्हारी सिफ़ारिश भी करता हूँ। 

राकेश अपने लौड़े को दबाता हुआ बोला: आऽऽऽऽऽह मैं फिर से देखूँगा। आऽऽऽह मम्मी मान जाए तो मैं भी कल ही उनको चोद दूँगा। 

सरला ने आँखें फाड़ कर अपने बेटे के लोअर के ऊपर से खड़ा लौड़ा देखी जो कि उसके लिए ही खड़ा था। सरला का मन दो जवान लड़कों के खड़े लौड़ों को देखकर गुदगुदी से भर उठा। उसका हाथ अपनी बुर पर चला गया। 

शिवा: अच्छा चलता हूँ। कहकर बाहर आया और वापस सरला के कमरे की ओर चल पड़ा। सरला पहले ही वहाँ से हट कर अपने बिस्तर पर आकर सोने का नाटक कर रही थी। वह अंदर आकर पूरा नंगा हुआ और फिर अपना लौड़ा सहलाते हुए उसके बग़ल में लेट गया और उसके बदन को सहलाया। सरला उठाकर बोली: अरे तुम फिर आ गए? 

शिवा : हाँ मम्मी नींद नहीं आ रही थी तो सोचा कि एक राउंड और करलेते हैं। 

सरला अनजान बनकर: ओह पर मैं तो थक गयीं हूँ । 

शिवा: अरे मम्मी अभी आपकी मालिश कर देता हूँ थकान मिट जाएगी। वह उसका गाउन खोलते हुए बोला। सरला ने गाउन उतारने में उसकी मदद की। अब वो सिर्फ़ ब्रा में थी। 

शिवा: मम्मी आपने पैंटी उतार दी? 

सरला: हाँ बेटा पैंटी पहनकर नींद नहीं आती। यह कहते हुए सरला ने खिड़की की ओर देखा और वहाँ उसे परदे के पीछे राकेश के होने का अहसास हुआ। वो और उत्तेजित हो उठी कि उसका अपना बेटा उसकी चुदाई देख रहा है। 

शिवा उसके बदन को दबाता हुआ बोला: मम्मी बताओ कहाँ कहाँ दबाऊँ। वह उसकी बाँह और जाँघ दबाते हुए बोला।

सरला: आह बेटा सब जगह अच्छा लग रहा है।

अब वो ब्रा खोला और दूध दबाकर बोला: इनको दबवाने में मज़ा आता है? 

सरला: आऽऽऽऽऽह बेटा इनको जब तुम दबाते हो को मैं स्वर्ग की सैर करने लगती हूँ। हाऽऽऽऽययय। 

अब वो उसको करवट लिटाया और इसके बग़ल में लेता और उसकी जाँघ को अपनी जाँघ पर चढ़ा कर मज़े उसकी बुर में अपना लौड़ा दबाया और आराम से चोदने लगा। 

शिवा: मम्मी इस आसन में मैं मालिनी को एक घंटा चोद लेता हूँ। आज आपको भी एक घंटा रगड़ूँगा। 
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply
06-10-2017, 10:19 AM,
#95
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
सरला अपनी गाँड़ हिला कर बोली: आऽऽऽऽह बहुत मज़ा आ रहा है बेटा। चोद जब तक तेरा मन करे। हाऽऽय । 

राकेश को खिड़की से दोनों के सटे बदन साफ़ दिखाई दे रहे थे। वो अपना लौड़ा बाहर निकाल कर मसल रहा था। 

अब दोनों अपनी कमर हिला कर चुदाई का मज़ा ले रहे थे। शिवा उसकी चूचियाँ होंठ और जीभ भी चूस रहा था। शिवा का एक हाथ उसके एक बड़े से चूतर पर था और वो उसे दबाए जा रहा था ताकि उसका लौड़ा पूरा अंदर उसकी बुर में जा सके। 

सरला: उइइइइइइइइ माँआऽऽऽ । आऽऽऽहहहह । बहुत अच्छाआऽऽऽऽऽऽऽ लग रहाआऽऽऽऽ है बेएएएएएएएएरटा । 

थोड़ी देर बाद चोदते हुए वह बोला: मम्मी आज मैं और राकेश पार्क में गए थे। वहाँ राकेश के बारे में एक बात पता चली। 

सरला: वो क्या? 

शिवा: कि उसको बड़ी उम्र की औरतें अच्छी लगती है। 

राकेश ध्यान से सुनने लगा। 

सरला: ओह ऐसा क्यों? 

शिवा: ऐसा इसलिए कि उसने आपको नंगी देखा है ताऊ से चुदवाते हुए। तभी से वो बड़ी उम्र की औरतें ही पसंद करता है। अब शिवा ने उसे पार्क का पूरा क़िस्सा सुनाया। 

सरला: ओह तो वो औरत खुले आम पार्क में अपने भतीजे से चुदवा रही थी? 

शिवा: हाँ और तभी शिवा ने बताया कि वो आपको चोदना चाहता है? 

सरला अनजान बन कर: हे भगवान ! ये कैसे हो सकता है? 

शिवा: मम्मी आजकल सब चलता है। आप भी अभी अपने दामाद से चुदवा रही हो कि नहीं? तो बेटे से भी चुदवा सकती हो? और फिर ये भी हो सकता है कि वो बड़ी उम्र की गंदी रँडियों के चक्कर में पड़ जाए तो उसको गंदी बीमारियाँ भी लग सकती हैं। 

सरला: नहीं नहीं ये नहीं होने दूँगी मैं। इससे अच्छा तो यही होगा कि वो मुझे ही चोद ले। 

यह सुनकर राकेश का लौड़ा उसके रुमाल पर अपना रस छोड़ने लगा। वो सोचा कि मम्मी तो चुदवाने के लिए मान ही गयी। 

शिवा: मम्मी कल सुबह शिवा आपको आकर किचन में पीछे से पकड़ेगा। आप विरोध मत करना तो उसको हरी झंडी मिल जाएगी। अब वो ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा। 

सरला: उइइइइइइ आऽऽऽऽऽऽह । ठीक है आऽऽऽऽऽऽह मैं राकेश को मना नहींइइइइइइइ करूँगीइइइइइइइइइइइ । हाऽऽऽऽयययय क्या मज़ाआऽऽऽऽऽऽऽऽ आऽऽऽऽऽ रहाआऽऽऽऽ है बेएएएएएएएटा। 

शिवा ने भी जोश में आकर उसकी गाँड़ में दो ऊँगली भी डाल दी। 
अब दोनों उन्न्न्न्न ऊँननन करके झड़ने लगे। 

फिर वो आपस में लिपटकर नंगे ही सो गए। राकेश अब अपने कमरे में आकर अगले दिन मम्मी के साथ मिलने वाले मज़े का सोचते हुए सो गया। 

अगली सुबह सरला ने शिवा को उठाया तो वो कपड़े पहनकर अपने कमरे में चला गया। मालिनी अब भी सो रही थी। वो नहाया और बाहर आकर मालिनी को उठाया। वो बाहर आया और किचन में गया जहाँ सरला चाय बना रही थी। वो बोली: अरे नहा भी लिए। 

शिवा चाय लेकर पीते हुए बोला: हाँ मम्मी जल्दी वापस जाना है ना। आप मालिनी के लिए भी चाय दे दो । मैं ले जाता हूँ। 

सरला उसको चाय दी और वो पहले एक बार उसको बाहों में लेकर चूमा और बोला: थैंक्स मम्मी बहुत मज़ा आया। अरे हाँ राकेश आया था क्या? 

सरला शर्मा कर: अभी तक तो नहीं आया। एक बात बताओ क्या माँ बेटे का ये सब करना ठीक होगा? 

शिवा: अगर आप नहीं करोगी तो वो रंडियो के चक्कर में पड़ेगा। अब आप देख लो।

सरला: ओह ये मैं नहीं होने दूँगी। ठीक है बेटा देखा जाएगा। 

शिवा मुस्कुराता हुआ उसके होंठ चूमकर मालिनी के लिए चाय लेकर वहाँ से निकल गया। 

मालिनी चाय पीकर फ़्रेश हुई और नहाई फिर तय्यार होते हुए बोली: कल रात मुझे बहुत गहरी नींद आयी थी। पता नहीं मुझे क्या हो गया था। 

शिवा उसको अपने से लिपटाकर उसके होंठ चूमकर बोला: अच्छा है ना माँ के घर में आराम मिल गया। 

वो हँसकर बोली: हाँ वो तो है ही। और इस बार आपने भी पिरीयड्ज़ में बिलकुल तंग नहीं किया। थैंक्स। 

शिवा: अब तक तो क्लीयर हो गया होगा ना, आज रात को तो चुदवाओगी ? 

मालिनी हँसकर उसके लौड़े को पैंट के ऊपर से दबायी और बोली: हाँ जी आज रात को जी भर के चोद लेना। इसकी प्यास बुझा दूँगी। 

शिवा सोचा कि इसको क्या पता है कि इसकी प्यास तो मम्मी जी ने कई बार बुझा दी है। 

उधर राकेश की नींद खुली और वो फ़्रेश होकर किचन में गया। उसका बदन उत्तेजनावश काँप रहा था। उसका लौड़ा लोअर में पूरा खड़ा था। वह किचन में गया तो सरला सब्ज़ी काट रही थी। उसने पीछे से जाकर उसको पकड़ लिया और बोला: मम्मी आइ लव यू। और उसके गाल में चूम्मा ले लिया ।सरला को मानो करेंट का झटका लगा। वो सोची कि अगर अभी इसे नहीं रोका तो शायद बात हाथ से निकल जाएगी। तभी उसने अपना हाथ उसके पेट पर फेरा और चिकने और नरम पेट के अहसास पा कर वह उत्तेजित हुआ और अपना लौड़ा उसकी गाँड़ से सटा कर उसे दबाकर वह मस्ती से भर गया। सरला का रहा सहा विरोध उसके लौड़े की चुभन से धरा का धरा रह गया। उसकी इच्छा हुई कि वो गाँड़ हिलाकर उसके लौड़े का मज़ा ले ले। तभी मम्मी की सहमति मान कर वह अब अपना हाथ मम्मी के दोनो चूचियों पर रखा और उनको दबाने लगा। सरला की अब आऽऽऽऽऽह निकल गया। अब वह खुलकर अपना लौड़ा उसके गाँड़ की दरार में दबाने लगा।
सरला: अरे छोड़ मुझे। मैं तेरी माँ हूँ कोई गर्ल फ़्रेंड नहीं हूँ। 

राकेश: मम्मी मुझे जीजा जी ने बताया कि आप मुझसे चुदवाओगी। प्लीज़ थोड़ा मज़ा ले ने दो अभी। मैंने रात को आपको उनसे चुदते देखा था। 

अब सरला सहम गयी और बोली: चुप कर अब । अभी जा यहाँ से । कहीं कोई आ गया तो। 

राकेश: मम्मी सब लोग तो ११ बजे तक चले जाएँगे फिर आप मुझसे चुदवा लेना। बहुत तमन्ना है आपको चोदने की। 

सरला: अभी जा बाद की बाद में देखेंगे। 

राकेश ख़ुश होकर मम्मी की चुम्मी लेकर अपने हाथ को साड़ी के ऊपर से उसकी बुर पर रखा और दबाकर हँसते हुए वहाँ से चला गया। 

फिर सबने नाश्ता किया और मालिनी और शिवा सबसे विदा लेकर वहाँ से चले गए। 

रास्ते में कार में शिवा बोला: पापा से बात हुई क्या? 

मालिनी : नहीं मैं सोची कि आप बात कर लिए होगे। 

शिवा: अभी फ़ोन लगा लो। 

मालिनी : ठीक है। अब वो फ़ोन लगाई और बोली: पापा जी नमस्ते। मैं और शिवा अभी कार में है और हम एक घंटे में घर पहुँच जाएँगे। 

राजीव: ठीक है बेटा , आ जाओ। 
उसने कोई भी उलटी सीधी बात नहीं की क्योंकि मालिनी की बातों से वह समझ गया था कि शिवा उसके साथ है। 
थोड़ी देर में कार उस ढाबे के पार हुई जहाँ कल आते हुए उन्होंने चाय पी थी। शिवा: देखो वही ढाभा जहाँ तुमको शिला मिली थी जो कि अपने ससुर से लगवा रही थी। 

मालिनी: हाँ याद है। अच्छा आप ये तो बताओ की दो दिन से आप एक बार भी झड़े नहीं हो। मुझसे चुसवा भी नहीं रहे हो आख़िर आपका काम कैसे चल रहा है? 

शिवा पैंट के ऊपर से अपने लौड़े को दबाकर बोला: बस आज रात को देखना क्या मस्त चुदाई करूँगा। 

मालिनी हँसकर: आज रात तो मैं भी आपको नहीं छोड़ने वाली हूँ। मेरा तो मन कर रहा है कि अभी आपको चूम लूँ। इतने हैंडसम दिख रहे हो आप अभी। 

शिवा ने हँसते हुए कार चलाते हुए अपने गाल उसकी तरफ़ कर दिए। वो उसको चूम ली। फिर इसी तरह चूहलबाज़ी करते हुए वो घर पहुँचे । राजीव अभी भी ट्रैक सूट में था और टी वी देख रहा था। दोनों ने उसके पैर छुए और वो शिवा से गले मिला और मालिनी के सिर पर हाथ रखकर आशीर्वाद दिया। दोनों अपने कमरे में गए और शिवा जल्दी से तय्यार हुआ और दुकान चला गया । मालिनी ने भी घर के कपड़े सलवार कुर्ता पहना और बाहर आयी और किचन में जाकर बाई से काम करवाने लगी और खाने की तय्यारी भी करने लगी। जब वो किसी काम से ड्रॉइंग रूम से गुज़रती तो राजीव उसे देखकर मुस्कुरा देता और वो भी मुस्कुरा देती। क़रीब १२ बजे बाई काम करके चली गयी । उसके जाने के बाद मालिनी दरवाज़ा बंद करी और सीधी आकर राजीव के सामने आकर खड़ी हुई । राजीव भी उसे देखे जा रहा था । अब वो एकदम से उसके गोद में बैठी और उससे पूरी तरह लिपट गयी और उसके गाल चूमने लगी और फिर अपने होंठ उसके होंठ पर रख दी। अब दोनों एक प्रगाढ़ चुम्बन में डूब गए । अब होंठ और जीभ भी एक दूसरे की चूसे जा रहे थे। फिर जब दोनों हाँफने लगे, तब मालिनी बोली: पापा मैंने आपको बहुत मिस किया। मैं अब आपको प्यार करने लगी हूँ। आपसे एक दिन भी अलग रहकर मुझे चैन नहीं मिला। और वो रोने लगी। 

राजीव उसको चूमकर बोला: बेटी मेरा भी यही हाल था और मैं भी एक दिन तुमको देखे बिना नहीं रह सकता। पर रो क्यों रही हो। 

मालिनी: पापा ये क्या अजीब सी बात हो गयी है की मैं शिवा को भी बहुत प्यार करती हूँ और अब आपसे भी प्यार करने लगी हूँ। ये क्या हो रहा है? 

राजीव ने उसके होंठ चूमे और बोला: बेटी इसमें कोई ग़लत बात नहीं है। एक इंसान दो लोगों से क्यों नहीं प्यार कर सकता। क्या पता शिवा भी किसी और से प्यार करता हो? वो मन में सोचा कि अब जल्दी ही ये बात इसको बतानी होगी और फिर देखे क्या रायता फैलता है? 

मालिनी: ओह पापा कई बार मैं बहुत उलझन में पड़ जाती हूँ। 

राजीव अब उसके चूचियों पर हाथ फेरा और बोला: बेटा पिरीयड्ज़ का क्या हाल है? 

मालिनी: पापा आज शाम तक क्लीयर होना चाहिए। आपको इच्छा हो रही है तो चूस दूँ क्या? 

राजीव: अभी ऐसी ही गोद में बैठी रहो और बातें करो। बाद में चूस देना। अच्छा ये बताओ सरला कैसी है? 

वो अपना मुँह उसकी छाती में घुसाई और बोली: मम्मी ठीक हैं । मेरी बहने और भाई भी ठीक है। पर इस बार मुझे मम्मी के साथ टाइम बिताने का मौक़ा ही नहीं मिला। मेरे भाई बहनों के साथ ही ऊधम करती रही। 
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply
06-10-2017, 10:20 AM,
#96
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
राजीव सोचा कि तभी तो सरला को शिवा से चुदवाने का मौक़ा मिला, वरना कहाँ मिलता। दोनों बड़ी देर तक बातें करे। फिर राजीव ने उसका कुर्ता उतारा और ब्रा के ऊपर से उसकी चूचियाँ दबाया और उनको चूमा। फिर वह उसकी बाँह उठाया और उसकी बग़ल सूँघा और मस्त होकर चाटने लगा। मालिनी भी अपने गाँड़ के नीचे उसके लौड़े को कड़ा होते महसूस करने लगी। 

अब वह उसकी चूचि चूमते हुए बोला: बेटा चूसोगी क्या अभी? 

मालिनी: जी पापा , लूँगी निकाल दीजिए। और वह उसकी गोद से उठ गयी। 

राजीव अब लूँगी निकाला और मालिनी नीचे ज़मीन पर बैठी और उसके लौड़े को बड़े प्यार से सहलाई और फिर चूमने लगी। लौड़े को ऊपर से नीचे चाटकर वो अब उसको चूसने लगी। राजीव इसकी छातियों को ब्रा के ऊपर से दबाए जा रहा था। जल्दी ही वो ज़ोर ज़ोर से चूसने लगी और हाथ से उसके बॉल्ज़ को भी सहलाने लगी। अब राजीव आऽऽह ह्म्म्म्म्म्म करके उसके मुँह में अपना रस छोड़ने लगा। वह उसको पी गयी और उसके सुपाडे को चाट कर साफ़ कर दी। आख़री बूँद जो कि उसके लौड़े के छेद में लगी थी उसे भी जीभ से चाट ली। अब वो मुँह पोंछकर खड़ी हुई तो राजीव उसकी सलवार के ऊपर से उसकी बुर दबाकर बोला: बेटा इसे चूस दूँ? 

मालिनी: नहीं पापा अभी पूरा बंद नहीं हुआ है। कल चूस लेना। फिर वह अपनी कुर्ता पहनी और किचन में जाकर चाय बना कर लाई और दोनों चाय पीने लगे। 

मालिनी: पापा आप बोले थे ना कि मैं गायनोकोलोजिस्ट से अपना चेक अप करवा लूँ। आप डॉक्टर से बात किए? 

राजीव : हाँ बेटा अच्छा याद दिलाया । फिर वो मोबाइल से डॉक्टर को फ़ोन किया और बोला: हाँ डॉक्टर नमस्ते। मेरी बहु आपसे अपना चेक अप करवाना चाहती है। शादी को ६ महीने हो गए हैं और वो अभी तक प्रेगनेंट नहीं हुई है । 

डॉक्टर: -----

राजीव: हाँ हाँ आप सही कह रही हो अभी समय है पर एक बार चेक अप कर लो ना । इसमें कोई हर्ज है क्या ? 

डॉक्टर: ------

राजीव: ठीक है मैं उसे कल १२ बजे लेकर आता हूँ। नमस्ते। 
फिर उसने फ़ोन बंद किया और बोला: चलो कल १२ बजे तुमको दिखा ही देते हैं। 

मालिनी उठकर उसके गोद में आकर बैठी और बोली: पापा मान लो मेरा सब ठीक हुआ तो? क्या शिवा का भी चेक अप करवाएँगे? 

राजीव: तब की तब देखेंगे। अभी से क्यों सोच रही हो? वैसे डॉक्टर भी यही बोल रही थी कि आपको इतनी जल्दी क्या है? अभी एक साल भी नहीं हुआ है शादी को। 

मालिनी: हाँ ये भी सच है। पर एक बार चेक अप करवा ही लेती हूँ। ठीक है ना पापा? 

राजीव उसको चूमते हुए उसकी पीठ सहलाया और बोला: ज़रूर बेटा, चेक अप कराने में क्या हर्ज है।
फिर दोनों एक दूसरे से चिपके हुए प्यार से बातें करते रहे।
उधर सरला शिवा और मालिनी के जाने से थोड़ी उदास थी। सबने नाश्ता किया और अपने अपने स्कूल , कॉलेज और काम पर चले गए।अब वो ड्रॉइंग रूम में बैठी और पसीना पोंछने लगी। तभी पता नहीं कहाँ से राकेश आ गया। 

सरला: तू कॉलेज से वापस भी आ गया ? अभी तो गया था?

राकेश: मम्मी मैं आज गया ही नहीं। थोड़ी देर बाहर घूम कर वापस आ गया। 

सरला ग़ुस्सा दिखा कर: ये सही नहीं है बेटा, तुम्हारा आख़री साल है। 

राकेश आकर उसके पास बैठा और बोला: मम्मी आप जानते हो की मैं पढ़ने में कितना तेज़ हूँ। एक दिन से कुछ फ़र्क़ नहीं पड़ेगा और मैं आगे से कभी भी क्लास मिस नहीं करूँगा। पर आज तो वो दे दो आप जिसे पाने को मैं सालों से पागल हूँ। 

सरला मुस्करायी: अच्छा ऐसा क्या चाहिए मुझसे? 

राकेश उसको पकड़कर अपने से सटा कर बोला: आप चाहिए मम्मी जी। 

सरला: तो मैं बैठी तो हूँ। ले ले मुझे। 

राकेश अब उत्तेजित होकर: मम्मी क्यों तड़पा रही हो। सच मुझे आप चाहिए। वो उसकी बाँह सहलाकर बोला: मम्मी जीजा जी को तो बहुत प्यार किया थोड़ा सा मुझे भी कर दो ना। 

सरला: तुझे शर्म नहीं आयी अपनी मॉ के बेडरूम में झाँकता है? 

राकेश: मम्मी आपको जबसे देख रहा हूँ जब मैं छोटा था। आप ताऊजी के साथ क्या क्या करती हो मुझे सब पता है। प्लीज़ सबको मज़ा दे रही हो तो मुझे क्यों तड़पा रही हैं आप। 

सरला: पर तू मेरा सगा बेटा है मैं तेरे साथ ये सब नहीं कर सकती। 

राकेश अपना लंड अपने लोअर के ऊपर से दिखाया और बोला: मम्मी देखो कैसे पगला रहा है ये आपके लिए। वो यह कहकर उसका हाथ पकड़कर अपने लण्ड के ऊपर रख दिया। सरला उसके कड़े लंड के अहसास से सिहर उठी। फिर बोली: देख बेटा मैं तेरे साथ ये सब नहीं कर सकती। ज़्यादा से ज़्यादा मैं तेरी मूठ्ठ मार सकती हूँ। वो इसके लंड को अब दबाने लगी थी। 

राकेश: क्या मम्मी उसमें पूरा मज़ा थोड़ी ना आएगा। मुझे तो आपको चोदना ही है। 

सरला: ओह कैसी बात कर रहा है अपनी मम्मी के साथ। ये नहीं हो सकता। बस अब मैं नहाने जा रही हूँ। छोड़ मुझे। 

राकेश अब अपने आप को उसकी गोद में गिरा दिया और बोला: मैं तो नहीं उठूँगा जब तक आप हाँ ना कर दो चुदाई के लिए। 

अब सरला ने अपनी आवाज़ को कठोर किया और बोली: उठो अभी और जाओ कॉलेज । कह दिया ना कि माँ बेटे में ये नहीं हो सकता। उठो। 

राकेश आवेशित मम्मी के इस रूप से डर गया और बोला: ठीक है मम्मी अगर आपका यही जवाब है तो आप भी सुन लो कि मैं आज से भूक़ हड़ताल कर रहा हूँ। जब तक आप चुदाई के लिए हाँ नहीं करोगी मैं खाना नहीं खाऊँगा। 

सरला: वाह तू दुनिया का इकलौता बेटा हो जो कि माँ को चोदने के लिए भूक़ हड़ताल करेगा। जा मर मुझे कोई फ़र्क़ नहीं पड़ता। 

अब राकेश चुपचाप उठा और अपना बैग लेकर बाहर चला गया और बोला: मम्मी मैं कॉलेज जा रहा हूँ। 

सरला ने उसकी बात का कोई जवाब नहीं दिया। वह नहाने को बाथरूम में घुस गयी और कपड़े उतारते हुए सोचने लगी। शाम तक उसकी अक़्ल ठिकाने आ ही जाएगी। फिर वह अपने बदन में पानी डालते हुए सोची कि उसके बेटे का लंड तो काफ़ी बड़ा लग रहा था। वह गरम हो गयी और अपनी बुर में साबुन से सनी ऊँगली डाल कर अपनी बुर रगड़ने लगी। अब वह अपनी छाती भी मसल रही थी और बुर भी और जल्दी ही वो उइइइइइइइ कहकर झड़ने लगी। 

उधर राजीव ने सरला को खाने के पहले फ़ोन किया और बोला: फिर शिवा से भरपूर चुदीं या नहीं? 

सरला हँसकर: आपका बेटा आप पर ही गया है। मस्त मज़ा दिया है। 

राजीव: अब कुछ दिनों में यहाँ आओ और मालिनी को अपनी और शिवा की चुदाई दिखा दो। 

सरला: ये बड़ा मुश्किल होगा । मेरी बेटी का दिल टूट जाएग। प्लीज़ और कोई रास्ता ढूँढिए ना। ये बहुत दुखदाई होगा , हम तीनों के लिए। 

राजीव : मुझे लगता है कि इससे मालिनी की सेक्स के प्रति भ्रांतियाँ मिट जाएँगी। वो इसे रिश्तों से ऊपर उठकर आदमी और औरत की ज़रूरत की निगाह से देखेगी। 

सरला: फिर भी प्लीज़ कुछ वक़्त दीजिए ना। 

राजीव : ठीक है ।चलो रखता हूँ। कोई आ रहा है? 

सरला अब खाना खाकर लेट गयी। 

उधर रात को शिवा आया और मालिनी से बोला: जान आज बिज़नेस बहुत अच्छा हुआ । देखो मैं तुम्हारे लिए क्या लाया हूँ। 

वो एक सुंदर सी लिंगरी लाया था । वो बोला : आज यही पहनना । बहुत सेक्सी लगोगी। 

मालिनी: आह बहुत रोमांटिक मूड में लग रहे हो। लगता है रात भर परेशान करने वाले हैं आप। 

शिवा: अब तुम्हारी लाल झंडी हरी हुई है तो गाड़ी तो दौड़ाएँगे ही जानू। फिर दोनों हंसने लगे। अब शिवा बाथरूम में जाकर नहाने लगा। मालिनी को पता नहीं क्या सूझा कि वो सीधे वो लिंगरी लेकर राजीव के कमरे में गयी और बोली: पापा देखो ये मेरे लिए क्या लाए हैं ? 

राजीव कमरे में बैठकर टीवी देख रहा था। वो लिंगरी देखा और बोला: उफफफ क्या मस्त माल लगोगी इसमे ? कब पहनोगी इसको? 

मालिनी: सोने से पहले। 

राजीव: एक बार मुझे भी दिखाना कि कैसी लगती हो इसमें? 

मालिनी: कोशिश करूँगी कि आपको दिखा सकूँ। वरना कल आपको दिन में दिखा दूँगी पहन कर। 

राजीव उसको गोद में खींचकर उसके होंठ चूमते हुए बोला: बेटा कोशिश करो कि आज रात को ही दिखा दो। 

मालिनी: पापा आज दिखाऊँगी तो आप उत्तेजित हो जाओगे। फिर शांत कैसे होगे? 

राजीव: बेटा तुम दिखाओ तो मैं रास्ता निकालूँगा। प्लीज़ ।

मालिनी: ओके पापा मैं कोशिश करती हूँ। आप अभी खाना खाने आ जाओ। वो उसकी गोद से उठते हुए बोली। राजीव ने हाथ बढ़ाकर उसकी गाँड़ दबायी और बोला: ठीक है बेटा अभी आता हूँ। 
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply
06-10-2017, 10:20 AM,
#97
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
अब मालिनी खाना लगाई और तब तक शिवा और राजीव दोनों आकर टेबल पर बैठ गए थे और बिज़नेस की बातें कर रहे थे। मालिनी खाना लाई तो दोनों उसको देखने लगे। वो मुस्कुराई और बोली: क्या हुआ आप दोनों मुझे ऐसे क्यों देख रहे हो? 

राजीव: बेटा इस सलवार कुर्ता में तुम बहुत स्वीट लग रही हो। है ना शिवा? 

शिवा हँसकर: पापा इस पर तो सभी कपड़े जँचते हैं। 

राजीव: बिलकुल सच कहा बेटा। हमारी बहु है ही बहुत प्यारी। 

मालिनी: चलिए अब मेरे पीछे मत पड़िए और खाना खाइए। 
अब सब खाना खाए। फिर थोड़ी देर बाद अपने कमरे में चले गए। 

अब शिवा कमरे में मालिनी से बोला: चलो ना अब लिंगरी पहनो ना। 

मालिनी मुस्कुराकर बोली: अच्छा बाबा पहनती हूँ अभी। 

अब वो लिंगरी लेकर बाथरूम में घुस गयी और अपने पूरे कपड़े उतारे और फिर पूरा बदन साफ़ किया और फिर बिना ब्रा के लिंगरी पहनी। पैंटी तो वो पहनती ही नहीं थी। फिर वो अपने आप पर ही मुग्ध हो गए। उसकी चूचियाँ मस्त लग रही थीं । नेट वाली लिंगरी से उसके निपप्पल साफ़ दिखाई दे रहे थे। उसकी बुर भी साफ़ दिखाई दे रही थी। बुर के फूलें हुए लिप्स भी दिखाई दे रहे थे। बुर के बीच की लकीर जैसे ग़ज़ब ही ढा रही थी। अब वह बाहर आयी और शिवा की आँखें तो जैसे बाहर ही आ गयीं उत्तेजना से । वो अपना लण्ड सहला कर बोला: उफ़्फ़्फ़क क्या दिख रही हो जान। हम्म। वो अपने होंठ पर जीभ फेरकर बोला। वो सोचा कि मालिनी का ग़दराया बदन जैसे बिजली ही गिरा रहा है। और कल मम्मी का बदन भी लिंगरी में मस्त लग रहा था। दोनों माँ बेटी साली बहुत ज़बरदस्त फाड़ू माल हैं। 

शिवा: आओ जान अब पास में आओ । बहुत मस्ती आ रही है तुमको देखकर। 

मालिनी: आऽऽह ग़लती हो गयी । पापा को रात का दूध देना तो भूल ही गयी। अब क्या करूँ? इन कपड़ों में तो जा नहीं सकती। 

शिवा: ओह तो कपड़े बदल लो और दे आओ। अब और क्या हो सकता है। 

मालिनी: एक काम करती हूँ मैं ये शाल ले लेती हूँ बहुत बड़ी है । फिर वो पूरा ढाक ली और बोली: देखो अब कुछ दिख रहा है क्या? 

शिवा: नहीं अब कुछ दिख नहीं रहा है। पापा पूछेंगे कि ये क्यों पहना है। तो क्या बोलोगी? 

मालिनी मुस्करायी: मैं कह दूँगी कि थोड़ी ठंड लग रही है तो पहन लिया है। 

शिवा: ठीक है जाओ दूध देकर जल्दी आओ। बहुत तंग कर रहा है ये? वह अपना लंड दबाकर बोला। 

मालिनी बाहर आयी और किचन में जाकर दूध लायी और राजीव के कमरे में गयी और दूध साइड टेबल पर रख कर बोली: पापा दूध पी लेना। 

राजीव आँख मारकर: वो तो पी ही लूँगा बेटा। ये शाल उतारकर दिखा कि इसके पीछे क्या छिपाया है? 

मालिनी अपनी शाल उतार कर बोली: लो देखो । आपको दिखाने के लिए ही तो आयी हूँ। 

राजीव के होश ही उड़ गए उसकी अर्धनग्न जवानी देखकर। वो बोला: उफफफफ क्या माल हो बेटा तुम। आऽऽऽऽह मेरा पूरा खड़ा हो गया। वो अपने लण्ड को मसलते हुए बोला। 

वो उसकी चूचियाँ देख रहा था जिसके बड़े निपल्ज़ पूरे खड़े हुए थे। शायद वो भी उत्तेजित ही थी। नीचे उसकी बुर का शेप और उसकी फाँक देखकर वो मस्ती से भर गया। वो उठा और उसके निपल को एक ऊँगली और अंगूठे में लेकर मसला और मस्ती से भर गया। फिर नीचे जाकर उसकी बुर के दर्शन किया और वहाँ भी ऊँगली से सहलाया। अब मालिनी बोली: पापा चलती हूँ। वो चोदने के लिए पागल हो रहे हैं। 

राजीव: अच्छा बेटा जाओ। पर आज तुमको चुदवाते हुए देखने की इच्छा हो रही है। देख लूँ क्या? 

मालिनी हँसकर: पापा आप और ज़्यादा उत्तेजित ही होंगे ।क्या फ़ायदा होगा । देख लो आप क्या चाहते हो। 

राजीव उसकी बुर को सहलाते हुए: मेरी इच्छा है तुमको नंगी चुदवाते देखने की। बोलो देख लूँ? 

मालिनी हँसकर: ठीक है देख लीजिए। मैं खिड़की थोड़ी सी खोल दूँगी। आप परदे के पीछे से देख लेना। ओके ? 

राजीव उसके होंठ चूसते हुए: ठीक है बेटा मैं देखूँगा। वो उसकी चूचियाँ दबाकर उसे जाने का इशारा किया। 

मालिनी ने शाल लपेटी और अपने कमरे में जाकर दरवाज़ा बंद किया । 

शिवा: दे दिया पापा को दूध?

मालिनी: हाँ दे दिया। फिर हँसकर अपनी शाल उतारी और बोली: आपको क्या दूँ? 

शिवा मुस्कुराया : आओ बताता हूँ क्या लेना है। 

मालिनी: आप बाथरूम हो आओ । फिर मैं भी जाऊँगी। 

शिवा मुस्कुराया: लंड बिलकुल साफ़ चाहिए चूसने के लिए । यही ना? 

मालिनी: हाँ बिलकुल। मैं अपनी भी भी साफ़ रखती हूँ। ताकि आपको भी कोई इन्फ़ेक्शन ना हो। 

शिवा बाथरूम में गया और मालिनी ने खिड़की थोड़ी सी खोल दी और पर्दा खींच दिया। 

तभी शिवा बाथरूम से बाहर आया और अब वो बाथरूम चली गयी। जब वो बाहर आयी तो उसने देखा कि शिवा पूरा नंगा बिस्तर में पड़ा था और अपने आधे खड़े लंड को सहला रहा था। 

मालिनी मुस्कुरा कर: वाह पूरे तय्यार हो चढ़ाई के लिए ।

मालिनी आकर उसके ऊपर चढ़ गयी और दोनों एक प्रगाढ़ चुम्बन में लीन हो गए। शिवा के हाथ उसकी गरदन , पीठ और चूतरों पर घूम रहे थे। अब मालिनी शिवा की जीभ चूस रही थी। उसके कनख़ियों से खिड़की की तरफ़ देखा तो उसे एक परछाईं सी नज़र आयी और वो समझ गयी कि पापा आ गए है । वो ये सोचकर उत्तेजित होने लगी कि पापा उनकी चुदाई देखेंगे। 

अब शिवा उसके गाउन को नीचे से पकड़कर ऊपर उठाया और मालिनी की गाँड़ सहलाने लगा। उसके हाथ उसके भरे हुए जाँघों पर भी थे। 

उधर राजीव को शिवा पर सवार मालिनी की गाँड़ साफ़ साफ़ दिखाई दे रही थी। उसके बड़े बड़े गोरे चूतरों पर शिवा के हाथ मस्ती कर रहे थे मानो आटा गूँद रहे हों। उसकी गाँड़ की दरार में उसकी उँगलियाँ घुसकर मालिनी को उत्तेजित कर रही थीं। राजीव ने अपना लंड बाहर निकाला और उसको सहलाने लगा। 

अब मालिनी अपने आप को ऊपर उठायी ताकि शिवा उसकी चूचियाँ भी सहला सके । शिवा उसकी चूचियाँ दबाकर उसकी निपल को वैसे ही ऐठने लगा जैसे कुछ देर पहले पापा ने किया था । मालिनी आऽऽऽहहह कर उठी। 

शिवा: जान लिंगरी उतारो ना। अब रहा नहीं जा रहा। 

मालिकी उठी और बिस्तर से नीचे आकर खड़ी हो गयी। 

शिवा को सरला का डान्स याद आया ! उसे याद करके वो बोला: जान, आज मेरी एक इच्छा पूरी करोगी? 

मालिनी: क्या ?

शिवा मोबाइल से वही गाना बजाया - बिड़ी जला ले -- और बोला: जान ज़रा एक सेक्सी डान्स करो ना। और नाचते हुए ही नंगी हो जाना। 

राजीव के लंड ने अपने बेटे की ये बात सुनकर झटका मारा। आऽऽऽहहह क्या गरम लौंडा है, बिलकुल मुझपे ही गया है- वो सोचा। 

मालिनी मुस्करायी कि बाप बेटा दोनों ही शो देखेंगे। पर बाहर से दिखावे के लिए बोली: छि मुझे शर्म आती है ।

शिवा: अरे जान मुझसे कैसी शर्म? प्लीज़ करो ना। 

मालिनी : अच्छा करती हूँ। गाना शुरू से बजाओ। 

शिवा ने गाना बजाया। अब मालिनी मस्ती से नाचने लगी । शिवा की तो आँखें ही फैल गयीं थीं। उफफफ क्या नाचती है दोनों माँ बेटी। तभी मालिनी ने अपनी चूचियाँ और गाँड़ किसी रँडी की तरह हिलाने शुरू किए । अब तो शिवा के लण्ड ने प्रीकम छोड़ना शुरू किया। 

मालिनी नाचते हुए खिड़की तक गयी और एकदम से उससे सटकर नाचने लगी और छातियाँ हिलाने लगीं। राजीव परदे के ऊपर से ही उसकी छातियाँदबा दिया। वो फिर मुड़ी और अपनी गाँड़ मटका कर नाचने लगी । राजीव तो जैसे पागल सा हो गया। 

अब वो खिड़की से आगे आकर बिस्तर के पास आयी ताकि शिवा भी उसे दबा ले । उसने भी उसके बदन को सहलाया। 

अब वो नाचते हुए किसी मस्त रँडी की तरह अपनी लिंगरी उतारने लगी! अब उसने लिंगरी की सामने की रस्सी खोली और उसको ऊपर की ओर उठायी और धीरे धीरे नंगी होने लगी। पूरी नंगी होकर अब वह अपनी छातियाँ हिलाकर और गाँड़ हिलाकर नाच रही थी। शिवा अब तुलना करने लगा माँ और बेटी में। जहाँ मालिनी की चूचियाँ एक दम ठोस थीं और बड़े अनार की तरह उसकी छाती से सटी हुई थी और पूरी तरह से अपने दम पर खड़ी थी। सासु माँ की चूचियाँ बड़े आम सी थीं और अपने वज़न से थोड़ी नीचे को झूँकि हुई थी। और वो थोड़ी नरम भी थीं। मालिनी का पेट एकदम चिपका सा था जबकि सासु माँ का थोड़ा बाहर को निकला हुआ था । और चूतर तो सच में सासु माँ के ही क़यामत थे पूरे उभार लिए हुए जबकि मालिनी के थोड़े छोटे थे पर गोल गोल गोरे चूतर किसी को भी पागल कर सकते थे। अब वो नाचती हुई खिड़की के पास गयी और पहली बार अपने ससुर को अपनी छातियाँ पूरी नंगी दिखा कर मस्ती से हिलाने लगी। 

उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़ राजीव का बहुत ही बुरा हाल था । आज पहली बार अपनी बहु की नंगी चूचियाँ उसके सामने नंगी थी और वी और वो उनको उछालकर नाच रही थी। वो परदे से सटी और राजीव ने हाथ निकाल कर उसकी नंगी चूचियाँ सहलायी। अब वो खिड़की के ओर अपनी गाँड़ करके अपनी गाँड़ हिलाने लगी। राजीव उसकी रंडीपने से मस्त हो गया। 

अब वो आयी और बिस्तर पर लेटे शिवा के लण्ड को सहलायी और चूमने लगी। उसने अपनी गाँड़ को उठाकर खिड़की की तरफ़ किया और टाँगे फैलायीं ताकि पापा को उसकी पूरी छवि साफ़ साफ़ दिखाई दे। अब वो उसके लण्ड को पूरे ज़ोर से चूसने लगी। अब शिवा आऽऽऽहहहहह जान क्या चूस रही हो। अब वो उसको 69 के लिए बोला। मालिनी उसके ऊपर घूम गयी और अब वो उसकी बुर चूसने लगा और वो अब उसके बॉल्ज़ और लण्ड दोनों चूस रही थी। 

राजीव अब अपने लौड़े को ज़ोर ज़ोर से हिलाने लगा। 

शिवा अब मस्त होकर मालिनी को बोला: चलो अब नीचे आओ। वह घूम कर नीचे आ गयी और अपनी टाँगें उठा दी। वह खिड़की की तरफ़ देखा और वहाँ अब भी राजीव का अहसास हुआ उसको । वो मुस्कुराई और अब अपनी टांगों को पूरा फैलायीं और अपने बुर में ऊँगली डालकर शिवा को दी और वो उसे चूसने लगा। अब राजीव के सामने उसकी खुली हुई बुर थी जो उसे पूरी गीली दिखाई दे रही थी । 
अब शिवा उसकी टांगों को अपने कंधे पर रखा और अपना लण्ड धीरे से अंदर किया। अब मालिनी उइइइइइइइ माँआऽऽऽ कर उठी। फिर शिवा ने उसके दूध मसलते हुए उसकी चुदाई शुरू की। राजीव ने देखा कि सच में उसकी चुदाई में कोई बात थी। वो बहुत ही ज़ोरदार धक्के मार रहा था। सरला भी यही बोली थी की बहुत ज़बरदस्त चोदता है। 

शिवा की कमर एक मशीन की तरह चुदाई में लगी हुई थी। अब मालिनी की आऽऽऽऽहहह। हाऽऽऽऽऽय्य जीiiii और चोओओओओओओओदो। आऽऽऽऽऽहहह फ़ाआऽऽऽऽऽऽऽड़ दो । 

फिर वह नीचे से अपनी गाँड़ उछालकर बोली: उइइइइइइइ माँआऽऽऽऽऽऽऽ मैं तोओओओओओओओओ गयीइइइइइइइइइ।

अब शिवा भी अपनी कमर दबाकर आऽऽऽऽहहह ह्म्म्म्म्म्म कहकर झड़ने लगा। 

उधर राजीव भी अपने लंड का माल अपनी लूँगी में गिराने लगा। 

तीनों अब शांत थे। 

अब राजीव अपने कमरे में आ गया। उसकी बहु का नंगा जवान बदन उसे अब भी मस्ती से भर रहा था। उफफफफ क्या मस्त जवानी है और आज तो उसने नंगी होकर नाच कर भी दिखा दिया। सच में उसे अब चोदना ही होगा जल्द से जल्द। 

उधर शिवा और मालिनी थोड़ी देर आराम करने के बाद फिर से एक दूसरे को चूमने लगे। जल्दी ही वो गरम हो गए और अगले राउंड की चुदाई में लग गए। आधा घंटा गुज़र गया उनकी चुदाई में। फिर दोनों थक कर सो गए।
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply
06-10-2017, 10:20 AM,
#98
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
अगले दिन सुबह मालिनी चाय बनाकर राजीव को आवाज़ दी।राजीव बाहर आया । अब वो लूँगी बनियान में था। वो आकर टेबल पर रखी चाय पीने लगा। तभी मालिनी भी अपनी चाय लाकर साथ में बैठी और बोली: तो पापा आज पार्क में कितनी आँटियों को लाइन मारी? 

राजीव: आज मैं और मेरे साथ कई आदमी एक औरत को ताड़ रहे थे वो एक तंग पजामी में थी । उसकी मोटी गाँड़ सबको बहुत आकर्षित कर रही थी। अगर तुम्हारी मम्मी को वो पजामी पहना दूँ तो उसकी गाँड़ भी ऐसी ही दिखेगी। 

मालिनी हँसकर: आप भी ना मेरी मम्मी के पीछे ही पड़े रहते हो। 

राजीव : वो चीज़ ही ऐसी है। वैसे बेटा कल के तुम्हारे शो ने मुझे पागल ही कर दिया। उफफफ तुम्हारी चूचियाँ कितनी सख़्त हैं अनार कि तरह। 

मालिनी: आप कल उनको नंगी देख ही लिए। 

राजीव: बेटा अब जब एक बार देख और दबा लिया हूँ तो आओ ना अभी अच्छे से दिखा दो और दबवा लो। वह अपना लंड लूँगी के ऊपर से दबाकर बोला।

मालिनी: अच्छा पापा आप एक बात बताओ । कल आपने देखा ना की शिवा मुझे कितना प्यार करते हैं और कितना मज़ा देते हैं । फिर आप ही बोलो किमैं कैसे और क्यों उनको धोका दूँ। आपको पता है परसों जब हम मेरे मायके जा रहे थे तो रास्ते में एक ढाबे में रुके थे। वहाँ एक लड़की शीला मिली थी जो अपने ससुर के साथ आयी थी। उसे मैंने अपने ससुर से चुदवाते हुए देखा। 

राजीव की आँखें बड़ी बड़ी हो गयी। वो बोला: सच वाह क्या बात है। 

मालिनी हँसकर : पर उसका केस अलग है। उसका पति उसे मज़ा नहीं दे पाता और बाहर भी रहता है। उसका हथियार भी कमज़ोर है। इसलिए वो अपनी ज़रूरत ससुर से पूरी करती है। पर मेरे साथ तो ये सब नहीं है ना। आपने कल देख ही लिया। 

राजीव मुँह लटकानेवाली ऐक्टिंग करके: हाँ वो तो है। मेरा बेटा चुदाई में भी मुझपर ही गया है। तो फिर कोई स्कोप नहीं है मेरा। 

मालिनी हँसकर उसके पास आकर खड़ी हुई और उसको चूमकर: पापा कोई ना कोई रास्ता निकलेगा। अब तो आप मुझे अच्छे लगने लगे हो। 

राजीव ने भी उसके चूतरों को सहलाकर कहा: सच बेटा तुम भी मुझे बहुत अच्छी लगती हो। फिर उसकी चूचियों को दबाकर बोला: बेटा आज गैनकोलोजिस्ट के पास भी जाना है ना? १२ बजे का टाइम लिया है। 

मालिनी अब भी खड़ी हुई अपनी चूचियों को दबवाती हुई बोली: आऽऽऽह पापा अब छोड़ो ना। शिवा को उठाती हूँ। 

राजीव : बेटा एक बार बुर को चूम लेने दो ना प्लीज़। 

मालिनी: पापा आप एक बार तो कभी चूमते ही नहीं हो। बीसियों बार चूम लेते हो। शिवा के जाने के बाद चूम लेना। 

राजीव: अभी एक बार चूम लेने दो प्लीज़ । बाद में अच्छे से चूसूँगा। 

मालिनी : आप कहाँ मानोगे। यह कहकर वह अपनी नायटी उठायी और राजीव के सामने उसकी बुर थी। राजीव सोफ़े पर बैठा था और वो उसके सामने खड़ी थी। गोल गोल जाँघों के बीच में उसकी फूली हुई बुर बहुत मस्त दिख रही थी। वो हाथ से जाँघों को सहलाया और फिर बुर के ऊपर भी हाथ फेरा। फिर मस्त होकर आगे को झुका और उसकी बुर को सूँघा। उफफफफ क्या मस्त गंध थी। साबुन और सेक्स की मिली जुली गंध थी। वो उसे कई बार चूमा और फिर जीभ से भी रगड़ा। उधर उसके हाथ उसके गोल गोल नंगे चूतरों को भी दबा रहे थे। मालिनी उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ पापा अब छोड़ो ना। आपने कई बार चूम ही लिया। आऽऽऽऽहहह । बस करो। 

अब राजीव ने उसे घुमाया और उसके चूतरों को चूमने और काटने लगा। फिर उसने चूतरों को फैलाया और गाँड़ के छेद को भी चाटा और बोला: सुबह सुबह कितना साफ़ रखती हो? 

मालिनी: जिस लड़की के घर में दो दो हॉर्नी आदमी हो वो अपने ससुर और पति के स्वास्थ्य का ध्यान तो रखेगी ही ना। मैं थोड़े चाहूँगी कि आप दोनों बीमार पड़ो। इसलिए मैं दोनों छेद साफ़ रखती हूँ। पता नहीं कौन क्या चूमने या चाटने लग जाए। हा हा । 

राजीव भी हँसकर उसकी नायटी नीचे करके बोला: जाओ शिवा को चाय दे दो। 

मालिनी चाय लेकर शिवा को उठाई और फिर वह भी थोड़ी सी मस्ती किया और फिर तय्यार होकर दुकान चला गया। 

मालिनी भी बाई से काम करवाने लगी। राजीव नहाने जाते हुए बोला: बेटा तय्यार हो जाना, डॉक्टर के पास जाना है। 

मालिनी नहाकर तय्यार हुई और कमरे से बाहर आयी। उसने साड़ी और लो कट का स्लीव्लेस ब्लाउस पहना था। साड़ी भी नाभि दर्शना थी जो कि उसके चिकने सपाट पेट और गहरी नाभि का दर्शन करा रही थी। आज उसने पैंटी भी पहनी थी वरना चेक अप के दौरान डॉक्टर को पता चल जाता कि वो पैंटी पहनती ही नहीं है। 

राजीव भी बाहर आया और उसे देखकर बोला: वाह क्या दिख रही हो बेटा। बहुत प्यारी लग रही हो। पर अभी तो चालीस मिनट है निकलने में। 

मालिनी: पापा मुझे कुछ राशन लेना है। पहले समान ले लेंगे फिर डॉक्टर के पास चलेंगे। राजीव अब उसके साथ बाहर निकाला और कार निकालते हुए बोला: बेटा अब तुम्हारा पिछवाड़ा बहुत सेक्सी हो गया है। साड़ी में भी क़यामत नज़र आ रही हो। 

मालिनी मुस्करायी और बोली: पापा आप बस मुझे छेड़ने के बहाने ढूँढते हो। 

रास्ते भर वो उसकी जाँघ सहलाते हुए कार चला रहा था। दुकान पर आकर दोनों अंदर गए। राजीव : मैं यहीं खड़ा हूँ तुम ले आओ सामान ।

मालिनी जब ट्रॉली में सामान लेकर आयी तो उसने देखा कि राजीव एक आदमी से हँसकर बातें कर रहा था। राजीव ने उसका परिचय कराया : बेटा ये मुकेश जैन अंकल हैं । मेरे दोस्त हैं। और मुकेश ये मेरी बहु मालिनी है। 

मुकेश उसको खा जाने वाली निगाहों से देखते हुए बोला: भाई आपकी बहू बहुत प्यारी है। मालिनी ने साफ़ साफ़ देखा कि वो उसकी छातियों को घूर रहा था और उसकी आँखों में वासना भरी हुई थी। तभी एक मालिनी की उम्र की एक लड़की वहाँ आइ और मुकेश से बोली: पापा ये सामान हो गया अब आप कार्ड दो पेमेंट करना है। वह सलवार कुर्ते में बहुत हसीन लग रही थी। और उसका सब कुछ बड़ा बड़ा सा था। राजीव ने देखा कि वो एक थोड़ी सी मोटी लड़की थी। 

मुकेश: ये रुचि है मेरी बहु। और रुचि ये मेरे दोस्त राजीव और ये मालिनी उनकी बहु है। 

मालिनी और रुचि ने हाथ मिलाया। फिर मुकेश बोला: चलो साथ में एक कोफ़्फ़ी शाप है कोफ़्फ़ी पीते है। 

राजीव: यार फिर कभी । आज कुछ काम है। तबतक रुचि और मालिनी ने सेल नम्बर ले लिए थे एक दूसरे के। 

फिर वो बाहर आकर कार में बैठे। मालिनी: पापा ये आपके दोस्त अच्छा आदमी नहीं है। 

राजीव: अरे क्या हुआ बेटा? 

मालिनी: पापा उनकी आँखें वासना से भरी हुई थीं।

राजीव: ओह ऐसा क्या। चलो छोड़ो । हो सकता है कि तुमको ग़लत फ़हमी हो गयी होगी। 

मालिनी: पापा हम लड़कियों को सब समझ में आ जाता है कि आदमी कैसा है। 

तभी हॉस्पिटल आ गया और दोनों अंदर पहुँचे। राजीव उसे लेकर डॉक्टर के चेंबर में ले गया। वह बाहर बैठे आदमी से बोला: डॉक्टर मैडम हैं ? 

आदमी: वो तो आज नहीं आयीं हैं । उनकी तबियत रात को ख़राब हो गयी है। 

राजीव: ओह तो कोई दूसरा डॉक्टर नहीं है? 

आदमी : हाँ है ना वो सामने वाले चेम्बर में बैठे हैं। 

राजीव अंदर गया और थोड़ी देर में बाहर आकर बोला: बहु दूसरा डॉक्टर तो है मगर वह बुज़ुर्ग आदमी है। उसे दिखाओगी क्या? 

मालिनी: पापा आदमी को दिखाने में शर्म आएगी ना। प्लीज़ वापस चलो आज। 

राजीव : बेटा डॉक्टर तो डॉक्टर होता है क्या आदमी और क्या औरत । मेरा ख़याल है इनको दिखा दो। उस मैडम से भी बड़े डॉक्टर है ।फिर मैं तो यही बाहर रहूँगा ही ना। 

मालिनी: ठीक है पापा आप बोलते हो तो चली जाती हूँ। 

वो अंदर गयी और अंदर डॉक्टर बैठा था जो कि क़रीब ६० साल का था। वो मालिनी को देखकर बोला: आओ बेटी। यहाँ बैठो। बताओ क्या नाम है? उम्र। वो उससे पूछ कर लिखता जा रहा था। फिर बोला: हाँ बोलो क्या तकलीफ़ है? 

मालिनी: जी जी तकलीफ़ कोई नहीं है। 

डॉक्टर: अरे तो फिर यहाँ क्यों आइ हो बेटी? 

मालिनी: जी मेरा मतलब है कि मेरी शादी को ६ महीने हो गए हैं और मैं अभी तक प्रेगनेंट नहीं हुई हूँ। 

डॉक्टर हंस कर: सिर्फ़ ६ महीने और प्रेगनेन्सी की बात। बेटी अभी तुमको मौज मस्ती करनी चाहिए। इतनी जल्दी क्या है माँ बनने की। 

मालिनी: पर डॉक्टर हम दोनों रोज़ कई बार सेक्स करते है फिर भी मैं अभी तक क्यों प्रेगनेंट नहीं हुई? हम लोग कोई प्रटेक्शन भी नहीं उपयोग नहीं करते। 

डॉक्टर: ओह तो क्या हुआ ।तुम लोग प्रयास करते रहो। सब कुछ ठीक हो जाएगा। वैसे अगर तुम चाहो तो मैं चेक अप कर लेता हूँ। चलो वहाँ लेट जाओ।फिर उसने फ़ोन पर एक नर्स बुलाया। क़रीब ४० साल की नर्स आकर मालिनी को बिस्तर पर लिटायी और तभी डॉक्टर आया। अब वो उसके पेट को चेक किया और फिर वहाँ दबाकर बोला: बेटी कहीं दर्द तो नहीं हो रहा है ? 

मालिनी: जी नहीं । 

डॉक्टर: चलो नर्स साड़ी उठाओ। वह साड़ी और पेटिकोट उठायी। अब उसकी पैंटी साफ़ दिख रही थी। नर्स उसे कमर ऊपर करने को बोली। मालिनी ने शर्म से आँख बंद की और अपनी कमर उठाई। नर्स ने पैंटी उतारी और अब वो मालिनी की टांगों को घुटनों से मोड़ी और उनको फैला दी। अब डॉक्टर उसकी जाँघों के बीच आ गया और उसने अपने हाथ में ग्लव्ज़ लगाया। और टॉर्च से मालिनी की खुली बुर का निरीक्षण किया। फिर उसने अपनी दो उँगलियों का उपयोग करके उसकी बुर को खोला। अब वो उसके अंदर झाँका और जाँच किया। उसकी गुलाबी बुर की छबी देखकर डॉक्टर भी मस्त हो गया। अब उसने उसके अंदर दो उँगलियाँ डाल दी और अच्छी तरह से चेक अप किया। फिर वो मानो उसकी उँगलियों से चुदाई करने लगा। वो उँगलियाँ अंदर बाहर कर रहा था। नर्स उसे हैरानी से देखी तो वो शांत होकर उँगलियाँ बाहर निकाला। तभी नर्स की निगाह डॉक्टर के पैंट में बने तंबू पर पड़ी। वो हैरान हो गयी कि ये इस उम्र में भी इतना गरम इंसान है? वो नर्स अभी कुछ दिन पहले ही आयी थी इस नौकरी पर और डॉक्टर उसे पता चुका था। तभी मालिनी को नर्स ने उठने का इशारा किया। वो अपनी पैंटी पहनी और कपड़े ठीक की। तभी उसे भी डॉक्टर का उठा हुआ पैंट का हिस्सा दिखाई दिया। वो भी हैरान हो गयी। 


डॉक्टर: बेटी तुम्हारी अंदर की जाँच से तो सब ठीक ही लगता है।वो जाकर अपनी कुर्सी में बैठ गया। नर्स उसके पास आकर फुसफुसाई: सर ये क्या हो गया आपको आज? ऐसा ये कभी भी खड़ा नहीं होता ? वो उसकी पैंट की ओर इशारा करके बोली। उधर पार्टिशन की दूसरी तरफ़ कपड़े ठीक करती हुई मालिनी को कुछ बातों की आवाज़ें आयी तो वो कान लगाकर ध्यान से सुनने लगी। उसने नर्स की बात सुन ली थी। 

डॉक्टर: अरे ऐसी पुसी कई दिनों के बाद देखा है। उफफफ बहुत ही मस्त टाइट और गुलाबी सी है। बहुत प्यारी सी है। इसलिए मेरा खड़ा हो गया। 

नर्स: अरे आपका कितना चूसती हूँ तभी खड़ा होता है। आज तो मस्त खड़ा है आपका। 

डॉक्टर: बस ये जाए तो इसके बाद तुमको चोदूँगा। आऽऽह्ह्ह्ह्ह वह अपना लंड दबाने लगा। 

तभी मालिनी चुप चाप बाहर आयी और बोली: तो डॉक्टर मैं जाऊँ? 

डॉक्टर: हाँ हाँ जाओ। बस कोशिश करती रहो, तुममें कोई कमी नहीं है। वैसे मेरी सलाह है कि इतनी जल्दी क्या है माँ बनने की। जवान हो ख़ूबसूरत हो अभी ज़िन्दगी के मज़े लो। बच्चे पैदा करने के लिए टाइम ही टाइम है। 

मालिनी उसकी बातों को अनसुना करके बोली; तो क्या मेरे पति में कोई कमी होगी? 

डॉक्टर: बेटी बिना चेक अप के तो नहीं बता सकता। पर अगर वो स्वस्थ है तो जेनरली कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। मेरा सुझाव है कि अभी और कोशिशें करो, भगवान फल देगा। 

मालिनी: ठीक है डॉक्टर ।कहकर बाहर आ गयी। 

बाहर राजीव इंतज़ार कर रहा था । वो बोला: बेटा क्या रहा? सब ठीक है ना? 

मालिनी: जी पापा सब ठीक है। आप पेमेंट करिए। मैं कार में बताऊँगी। 

जब वो कार में जा रहे थे तो मालिनी ने डॉक्टर के साथ हुई बातें उसको बतायीं। राजीव ने उसकी जाँघों को सहलाया और बोला: बेटा मैं बोला था ना कि तुममें कोई कमी नहीं है। 

मालिनी: अपना मतलब क्या है कि कमी शिवा में है? 

राजीव: हाँ हो सकता है और हो नहीं भी सकता है। जब तक वो चेक अप नहीं कराएगा , कैसे कह सकते हैं। 

मालिनी दृढ़ता से बोली: मैं उनका चेक अप नहीं करवाऊँगी। मुझे पता है कि उनमें कोई कमी नहीं है। 
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply
06-10-2017, 10:20 AM,
#99
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
राजीव ने सोचा कि इस पर अब कोई फ़ायदा नहीं बहस करने से । फिर मालिनी ने राजीव को डॉक्टर और नर्स के बीच में हुई बातों को भी बताया। तो राजीव हँसकर बोला: देखो वो डॉक्टर रोज़ दस बीस बुर देखता होगा। और उसने तुम्हारी बुर की इतनी तारीफ़ की है तो कोई तो बात है ना इसमे। वह साड़ी के ऊपर से ही उसकी बुर को दबाकर बोला।

दोनों घर पहुँचे तो मालिनी का फ़ोन बजा। उधर शीला थी : हाय मालिनी, कैसी हो? 

मालिनी: ठीक हूँ तुम कहाँ हो? 

शिला: अरे मैं तुम्हारे घर के पास ही आयी हूँ। तभी तुम्हारी याद आइ। अगर तुमको कोई परेशानी ना हो तो चाय पीने आ जाऊँ? 

मालिनी: हाँ हाँ आओ ना। मैं अपना पता sms करती हूँ। बाई।

राजीव : ये कौन है? मैं तो तुमसे मज़े लेना चाहता था। 

मालिनी: पापा ये वोहि रिज़ॉर्ट वाली लड़की है जो अपने ससुर से मज़ा ले रही थी। 

राजीव: ओह हाँ हाँ तुमने बताया था। चलो ठीक है हम भी मिल लेंगे। वो आँख मारते हुए बोला। 

मालिनी हँसकर : पापा आप भी ना छैला हो। यह कहकर वो उसके लंड को दबा दी और बोली: चेक कर रही हूँ कि खड़ा हो गया है क्या शीला का नाम सुनकर। फिर वो हँसने लगी। 

तभी घंटी बजी और मालिनी शीला को अंदर लायी। राजीव अभी अपने कमरे में ही था। सोफ़े पर बैठ दोनों बातें करने लगी। एक दूसरे के परिवार को जानने के बाद बातें शीला के पति पर आ गयीं। 

शीला रुआंसी होकर: मेरी तो कई बार इच्छा होती है कि आत्म हत्या कर लूँ। मेरे पति को मुझसे कोई मतलब नहीं है। महीनो बाहर ही रहते हैं। घर आते हैं तो भी मुझसे कोई सम्बन्ध नहीं रखते। कई बार तो मुझे लगता है कि वो गे है। अगर सास ससुर का ख़याल नहीं होता तो सच में मर चुकी होती अब तक। 

मालिनी: अरे ऐसा क्यों कहती हो? परेशानी तो जीवन में आती रहती है ।हमको उसका मुक़ाबला करना होता है। कम से कम तुमको सास ससुर तो अच्छे मिले हैं ।

शीला: हाँ वो दोनों बहुत अच्छे हैं । मालिनी सोची कि ससुर कितने अच्छें है वो तो मैं देख चुकी हूँ। मज़े से चोद रहे थे इसे। वो बोली: तुम बैठो मैं चाय लाती हूँ। 
शीला : चलो मैं भी किचन में ही चलती हूँ। 

मालिनी और शीला किचन में थीं तभी राजीव बाहर आया और उसको किचन से बात करने की आवाज़ें आने लगी। वह जाकर चुपचाप किचन के साइड में खड़ा हो गया और उनकी बातें सुनने लगा। 

मालिनी: तुम बोली ना कि तुम्हारा पति से कोई ख़ास शॉरीरिक सबँध नहीं बन पता। तो अपनी प्यास कैसे बुझाती हो? 

राजीव के कान मालिनी का प्रश्न सुनकर खड़े हो गए। 

शीला: वो वो अब क्या बताऊँ। बोलने में भी शर्म आती है। छोड़ो इन बातों को। 

मालिनी: अरे बताओ ना। मन की बात कहने से मन हल्का हो जाता है। 

शीला: ये मैं नहीं बता सकती। 

मालिनी: चलो मैं ही बता देती हूँ। मैंने तुमको उस दिन कोट्टेज में अपने ससुर से करवाते देखा था। 

शीला का चेहरा सफ़ेद पड़ गया। वो हकला कर बोली: आप आप मतलब याने कि ओह हे भगवान। 

मालिनी: हाँ और तभी से मैं सोच रही हूँ कि ये सही है या ग़लत? 

शीला रोने लगी। अब मालिनी ने उसको अपनी बाँहों में लेकर चुप कराया और बोली: अरे मैं तो बस वही बता रही हूँ जो मैंने देखा। अच्छा ये बताओ कि ससुर ज़बरदस्ती किए हैं क्या?

राजीव ने साँस रोकी कि देखो क्या जवाब देती है वो। 

शीला आँसू पोंछकर : नहीं बिलकुल नहीं। जो भी हुआ मेरी रज़ामंदी से ही हुआ। ससुर जी बड़े भले आदमी हैं। 

चाय बन चुकी थी सो मालिनी बोली: चलो बाहर बैठ कर पीते हैं। अब राजीव वहाँ से हटकर अपने कमरे में जाकर सुनने लगा। 

मालिनी: तो ये सब कैसे शुरू हुआ? 

शीला: असल में मैं बहुत उदास रहती थी।हमारी शादी को २ साल हो चुके थे। पति का ना ही साथ था और ना ही शारीरिक संतुष्टि। तब एक दिन पापा मेरी उदासी का कारण पूछे। मैं उनको बता दी कि उनका बेटा नकारा है। वो हतप्रभ रह गए। फिर धीरे धीरे वो मुझसे बातें करने लगे और मैं भी उनसे खुलने लगी। जल्दी ही हम अच्छे दोस्त बन गए। सास को भी मैंने इशारे में सब बता दिया क्योंकि वो मुझे बच्चे के लिए कहती रहती थी। एक दिन सास कीर्तन में गयी थी तब मेरे पति का फ़ोन आया। वो बोले कि मुझे तीन महीने और लगेंगे बाहर में। उनका फ़ोन रख कर मैं रोने लगी। तब पापा ने मुझे चुप कराया और तभी मैं उनके सीने में सर रखकर रोए जा रही थी।फिर सब कुछ अपने आप जैसे होता चला गया। और मैं उनके साथ बिस्तर पर थी और सब कुछ हो गया। बात ये थी किमैं तो प्यासी थी ही। ससुर भी प्यासे थे क्योंकि सासु माँ आजकल धर्म कर्म में बहुत विश्वास करती है। और कई कई दिन उनको छूने नहीं देती है। बस तब से हम छुप छुप कर मिलते रहते हैं। 

मालिनी: ओह कभी सास को पता चल गया तो? 

शीला: पापा बोलते हैं देखा जाएगा। वैसे पापा को शक है कि माँ को पता है या शक है हमारे रिश्ते का। 

अचानक पता नहीं मालिनी को क्या सूझा कि उसके मुँह से निकल गया: एक बात बताओ कि अपने ससुर के अलावा भी किसी से मज़ा ली हो? 

शीला: हाँ जब मायके जाती हूँ तो अपने रिश्ते के मामा से करवा लेती हूँ। क्या करूँ ऐसा निकम्मा पति मिला है। 

मालिनी: ओह । मेरे घर में भी एक प्यासा मर्द है, उसको दोगी? 

शीला चौक कर बोली: क्या? कौन है? 

मालिनी: मेरे ससुर जी। वो भी बहुत प्यासे हैं। करवाओगी उनसे ? सासु माँ के जाने के बाद वो बहुत बेचैन रहते हैं। 

राजीव चुपचाप उनकी बातें सुन रहा था। उसका लंड ठुमकने लगा। और उसे अपनी बहु पर बहुत प्यार आया।

शीला: मगर ये कैसे सम्भव है? मतलब तुम्हारे सामने? 

मालिनी: मैं पापा को बोलती हूँ । अगर वो चाहेंगे तो सब हो जाएगा। तुम अपना बोलो की तुम करवाओगी क्या? 

शीला हिचकते हुए : मैंने उनको आज तक देखा नहीं है। और आप बोलती हो कि मैं उनसे करवा लूँ। ये कैसे सम्भव है।

मालिनी: अरे तो मिल लो ना अभी। मैं उनको बुलाती हूँ। 

वो राजीव के कमरे में जाकर आवाज़ दी: पापा बाहर आयिए ज़रा। 

राजीव अपना लंड दबाकर बाहर आया और बोला: हाँ बहू बोलो क्या बात है? 

मालिनी: पापा आओ ना इनसे मिलो ये शीला हैं । और शीला ये मेर ससुर जी हैं । 

शीला ने उसे नमस्ते की। राजीव उससे बातें करने लगा। एक दूसरे के परिवार के बारे में बातें किए। 

अब मालिनी ने शीला को इशारे से पूछा कि पापा पसंद हैं ? 

शीला शर्मा कर हाँ में इशारा की। राजीव ने सब देखा पर ना देखने का अभिनय किया। 

अब मालिनी राजीव को बोली: पापा आपसे अकेले में बात करनी है। आओ ज़रा। 

वो दोनो उसके कमरे में गए। वहाँ मालिनी बोली: आपको शीला कैसी लगी? 

राजीव मन ही मन ख़ुश होकर: ठीक है, क्यों क्या हुआ? 

मालिनी : पापा मैं उसे आपसे चुदवाने के लिए तय्यार की हूँ। बोलो क्या कहते हो? 

राजीव ने ख़ुशी से उसको अपनी बाहों में भर लिया और उसके होंठ चूमकर बोला: बेटी दिल ख़ुश कर दिया तुमने । सच में तुम बहुत प्यारी और समझदार लड़की हो। चलो उसको बता दो किमैं उसे अभी चोदना चाहता हूँ। 

मालिनी हँसकर बाहर आयी और शीला को बोली: पापा बुला रहे हैं। 

शीला शर्मा कर : बड़ा अजीब लग रहा है । पहली बार मिली हूँ और इतनी जल्दी ये सब। मैं कभी सोच भी नहीं सकती कि कोई बहु अपने ससुर के लिए लड़की जुगाड़ेगी। तुम बहुत स्पेशल हो। 

मालिनी हँसकर: जाओ और मज़े लो। 

शीला राजीव के कमरे में गयी तो वह वहाँ टहल रहा था । शीला ने देख किउसकी पैंट में एक बड़ा सा उभार था। वो शीला को देखकर बोला: आओ शीला बैठो। 

शीला बिस्तर पर बैठ गयी और बोली: मुझे बड़ा अजीब सा लग रहा है। 

राजीव उसके साथ सट कर बैठा और उसका हाथ अपने हाथ में लेकर बोला: मुझे मालिनी ने बताया कि तुम अपने ससुर से चुदवाती हो। तुम उनको क्या बुलाती हो? 

शीला: उनको पापा बुलाती हूँ। 

राजीव: और वो तुमको? 

शीला: बेटी बुलाते है। 

राजीव: चुदाई के दौरान भी ? 

शीला: जी उस समय भी। 

राजीव अब उसको अपनी गोद में खींच कर बिठाया और बोला: तो मैं भी तुमको बेटी ही बुलाऊँगा। ठीक है बेटी? 

शीला उसके सीने में मुँह छिपाकर: जी पापा । 

अब राजीव के होंठ उसकी होंठ की ओर और उसके हाथ उसके ब्लाउस की ओर बढ़े।
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply

06-10-2017, 10:20 AM,
RE: बहू नगीना और ससुर कमीना
राजीव का हाथ शीला के ब्लाउस की ओर बढ़ा और वो उसकी साड़ी के ऊपर से ही चूची पर हाथ फेरा। शीला बहुत सुंदर नहीं थी पर जवान तो थी। जवान लड़की के मस्त कसे दूध उस अधेड़ को भी जवान कर गए। अब राजीव उसकी चूचियाँ दबाते हुए बोला: बेटी क्या तुम्हारा पति बिलकुल ही नहीं चुदाई कर पाता? 

शीला: आऽऽऽऽह पापा वो तो अपना पतला सा डालते ही सी सी करते हुए झड़ने लगते हैं । दो तीन धक्के ही मुश्किल से मार पाते है। 

उसकी साड़ी के पल्लू को नीचे गिराकर राजीव अब उसकी अर्धनग्न छातियों को दबाते हुए बोला: और तुम्हारे ससुर अच्छी तरह से चोद पाते हैं? अब उसने उसका हाथ अपने लण्ड पर रख दिया लूँगी के ऊपर से । 

शीला उसके लण्ड को सहलाने लगी और उसका पूरा साइज़ महसूस की और बोली: जी वो बहुत अच्छे से मज़ा देते हैं।उनका ये भी बड़ा और मोटा है , पर आपका तो उनसे भी ज़्यादा बड़ा है। आऽऽहहह । राजीव ने उसकी चूचियाँ मस्ती में ज़्यादा ज़ोर से दबा दीं।

राजीव उसको खड़े किया और उसकी साड़ी निकाला और फिर ब्लाउस और पेटिकोट में उसकी मस्त जवानी को देख कर ख़ुशी से बोला: बेटी मस्त माल हो , आज चुदाई में बहुत मज़ा मिलेगा। 

शीला अपने ब्लाउस खोलते हुए बोली: पापा एक बात समझ में नहीं आयी कि मालिनी ने मुझसे ये सब करने को क्यों कहा। वो ख़ुद भी तो आपसे चु- मेरा मतलब है कि करवा सकती थी। 

राजीव उसकी ब्रा के हुक खोलते हुए बोला: बेटी, मालिनी को मेरा बेटा मज़े से चोदता है। इसीलिए वो मुझसे चुदवाना नहीं चाहती। पर वो जानती है कि मैं चुदाई के लिए तड़प रहा हूँ । इसलिए वो तुमको राज़ी की है मुझसे चुदवाने के लिए। भगवान ऐसी बहु सबको दे जो अपने ससुर का इतना ख़याल रखे। वैसे तुम्हारी सास को पता है कि तुम ससुर से चुदवाती हो? 

शीला: पता नहीं पक्का नहीं कह सकती। पर एक बार मैं पति को तलाक़ देने को कही थी तब से सास मुझसे दबती है। मुझे लगता है की उसको पता है पर ऐसा दिखाती है जैसे अनजान हो।

राजीव: ओह । फिर तो घर में ससुर से खुल कर चुदवा सकती हो? 

शीला: पापा बोल रहे थे कि जल्दी ही वो सासु माँ को भी इसमें शमिल करेंगे ताकि हम तीनों एक साथ मज़ा ले सकें। यह बात सुनकर राजीव मस्ती से भर गया। अब उसने उसकी ब्रा बाहर निकाली और उसके मस्त उरोजों को देख कर मस्ती से उनको सहलाया और फिर दबाने लगा। बड़े बड़े निपल्ज़ को वो ऐंठने लगा। फिर उससे रुका नहीं गया और वह बारी बारी से उनको चूसने लगा। शीला: आऽऽऽऽऽऽऽऽह पापा । बहुत अच्छा लग रहाआऽऽऽऽऽऽऽ है। 

अब उसने उसका पेटिकोट भी खोल दिया। पैंटी में कसी उसकी जवान बुर मस्त दिख रही थी। उसने पैंटी के ऊपर से उसकी बुर को सहलाया और वहाँ के गीलेपन को भी महसूस किया । लौड़िया गरम हो चुकी थी। फिर उसने झुक कर उसकी पैंटी भी उतारी और उसकी गरम बुर को देखकर मस्ती में आकर उसको मूठ्ठी में भींच लिया । वो सोचा कि आख़री चुदाई उसने नूरी की ही की थी। आज उसकी बहु की कृपा से उसके लण्ड की प्यास बुझेगी। अब वो शीला को बिस्तर पर लेटने को कहा। और अपने कपड़े भी उतार दिया। शीला की आँखें उसके ऊपर नीचे होते विशाल लण्ड पर थी। अब वो शीला के ऊपर आया और उसके होंठ चूसने लगा। शीला भी बराबरी से साथ दे रही थी। जब वो उसके दूध चूस रहा था तब वो भी उसका सर अपने दूध पर दबाके मस्ती से आऽऽह कर रही थी। उसका हाथ उसकी नंगी मस्क्युलर पीठ पर घूम रहा था। अब राजीव नीचे आकर उसकी जाँघों को फैलाया और उसकी बुर में दो ऊँगली डाला। पूरी गीली हुई पड़ी थी मस्त टाइट बुर थी।फिर वो थोड़ी देर जीभ से बुर के छेद को चाटा। शीला की सिसकारियाँ निकली जा रही थी। 

शीला: आऽऽऽऽह पापा बस करो वरना मैं झड़ जाऊँगी। आऽऽऽहहब मुझे भी आपका चूसना है। राजीव हँसकर मुँह हटा लिया और पलंग के सहारे बैठ गया। अब शीला झुककर उसके जाँघों के बीच आयी और उसके लण्ड को मज़े से चूसने लगी। वह उसकी बॉल्ज़ भी चूस रही थी। राजीव उसकी चूचियाँ दबाए जा रहा था। 

अब राजीव बोला: आओ चलो अब लेटो और मैं डालता हूँ। 

शीला लेट गयी और अपनी टाँगें फैला ली। राजीव उनके बीच में आकर अपना लण्ड उसकी बुर में डाल दिया। वह आऽऽऽऽहहह पाआऽऽऽऽऽऽऽपा कर के नीचे से अपनी गाँड़ उछाली और पूरा लण्ड निगल गयी। अब राजीव उसे बुरी तरह से चोदने लगा। वो भी उसकी कमर पकड़ कर नीचे दबा रही थी ताकि पूरा लण्ड निगलती रहे। अचानक राजीव ने महसूस किया शीला उसके चूतरों को दबाकर नीचे को खींच रही थी । उसने चुदाई की गति तेज़ कर दी। धक्कों से पलंग भी चूँ चूँ करने लगा। हर धक्के पर वो ऊं ऊं करती थी।उसने सोचा कि बहुत गरम माल है। तभी वो महसूस किया कि शीला ने उसकी गाँड़ में ऊँगली डालनी शुरू की है। वह उत्तेजित होकर आऽऽऽऽऽह करके झड़ने लगा। शीला भी चिल्ला कर उफ़्फ़्फ़्फ़्फ़्फ़ कहकर झड़ रही थी। 

बाद में राजीव उसकी बग़ल में लेटके पूछा: बेटी ये गाँड़ में ऊँगली डालना कहाँ से सीखा है? 

शीला: वो मेरे मामा ने सिखाया है। उन्होंने ही शादी के पहले मेरी सील तोड़ी थी। बाद में पति से सुख ना मिलने के कारण मैं फिर से मायके जाकर उनसे चुदवा लेती थी । अब तो ससुर भी मज़ा दे देते हैं। 

राजीव: ओह चलो अब जब चुदाई की इच्छा हो मेरे पास आ सकती हो। ठीक है ना? 

शीला: जी ठीक है। आपकी बहू को इतराज नहीं होना चाहिए। 

राजीव: वही तो तुमको मुझसे मिलवाई है। उसे कोई इतराज नहीं होगा। 

शीला उठके बाथरूम गयी और तय्यार होकर बाहर आइ। वहाँ ड्रॉइंग रूम में मालिनी शांति से टी वी देख रही थी। 

मालिनी मुस्कुराते हुए: हो गया? मज़ा आया? 

शीला भी मुस्कुराकर: हाँ हो गया। बहुत मज़ा आया है। 

मालिनी: चलो चाय बनाऊँ? 

शीला: नहीं अब निकलती हूँ। घर में सब इंतज़ार कर रहे होंगे। 

फिर वह मिलते हैं कहकर जल्दी से चली गयी। मालिनी बैठी सोच रही थी कि ये आज उसने क्या कर दिया? अब पापा को तो हमेशा इस तरह की अपेख्शाएँ हो जाएँगी उससे । तभी राजीव लूँगी बाँधता हुआ आया और बोला: बेटा आज तो बहुत दिन बाद चुदाई का मज़ा दिला दिया तुमने सच में तरस गया था इसके लिए। वह उसके गाल चूमकर बैठ गया। 

मालिनी हँसकर: पापा पसंद आयी शीला? 

राजीव: अरे बिलकुल टाइट माल है जवान है चुदासी भी है। चेहरे से वो सुंदर नहीं है तो क्या। बाक़ी सब तो बढ़िया है। बुर मस्त टाइट है।चूचियाँ भी मस्त हैं। 

मालिनी हँसने लगी। 

उधर सरला बच्चों के लिए शाम का नाश्ता और चाय बनाई। रुचि और मुन्नी चाय पीने लगी। तभी सरला ने राकेश को आवाज़ दी तो वो बाहर आया अपने कमरे से। उसका चेहरा सूखा हुआ था। वो बोला: हाँ मम्मी बोलो। 

सरला को उसके सूखे चेहरे को देखकर चिंता हुई और वो बोली: बेटा तबियत ठीक है ना? 

वो : हाँ सब ठीक है। 

सरला: तो फिर आ जा चाय पी ले। 

राकेश: नहीं इच्छा नहीं है। वो ये कहकर अपने कमरे में वापस चला गया। 

सरला को उसकी भूक़ हड़ताल की बात याद आइ और वो सोची कि इस नालायक को समझाती हूँ। वो उसके कमरे में गयी । वो बिस्तर पर पेट के बल लेता था। वो बोली: बेटा क्या हुआ । चलो चाय पी लो। मैंने तुम्हारे पसंद के पकोड़े भी बनाए हैं। 

वो : मम्मी मुझे कुछ नहीं खाना है। आप मेरे बैग से लंच बॉक्स भी निकाल लो क्योंकि मैंने खाना नहीं खाया है। 

सरला झुंझला कर: बेटा क्या तमाशा बना रखा है ये सब। चलो चुपचाप उठो और खाना खाओ। 

राकेश सीधे होकर लेटा और बोला: मम्मी मैं नहीं खाऊँगा। जब तक आप मेरी बात नहीं मानोगी। 

सरला: बेटा जो तुम चाहते हो वो नहीं हो सकता। मॉ बेटा ये सब नहीं कर सकते। मैंने कहा तो कि ज़्यादा से ज़्यादा मैं तुमको हाथ से कुछ सुख दे सकती हूँ। बस इसके आगे कुछ नहीं। 

राकेश: मम्मी आप जाओ यहाँ से मुझे सोने दो। 

अब सरला ग़ुस्से में : जा मर भूका । कहकर वहाँ से बाहर आ गयी। 

फिर कोई पड़ोसन उसके पास आयी और वो बातें करने लगीं।
[url=http://rajsharmastories.com/viewtopic.php?f=12&t=7668#top][/url]
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Behan Sex Kahani मेरी प्यारी दीदी sexstories 46 753,137 09-13-2022, 07:25 PM
Last Post: Ranu
Star non veg story नाना ने बनाया दिवाना sexstories 109 751,866 09-11-2022, 03:34 AM
Last Post: Gandkadeewana
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 23 587,746 09-10-2022, 01:50 PM
Last Post: Gandkadeewana
Star Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी sexstories 42 422,072 09-10-2022, 01:48 PM
Last Post: Gandkadeewana
Lightbulb Vasna Sex Kahani घरेलू चुते और मोटे लंड desiaks 109 1,337,620 09-10-2022, 01:46 PM
Last Post: Gandkadeewana
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 163 1,675,800 08-28-2022, 06:03 PM
Last Post: aamirhydkhan
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 46 237,108 08-27-2022, 08:42 PM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Indian Sex Kahani मिस्टर & मिसेस पटेल (माँ-बेटा:-एक सच्ची घटना) desiaks 101 320,776 08-07-2022, 09:26 PM
Last Post: Honnyad
Star Chodan Kahani हवस का नंगा नाच sexstories 36 385,324 07-06-2022, 12:04 PM
Last Post: Burchatu
Tongue Maa ki chudai मॉं की मस्ती sexstories 71 777,533 07-01-2022, 06:30 PM
Last Post: Milfpremi



Users browsing this thread: 54 Guest(s)