Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
01-18-2019, 01:54 PM,
#31
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
गुप्ता जी भी समझ गये की अब काजल पर सेक्स का भूत चड चुका है..वो उसकी सिसकारी का मतलब अच्छी तरह से जानते थे...वो ऐसी गर्म सिसकारी तभी लेती थी जब वो चुदाई के लिए किसी कुतिया की तरह बिलबिलाने लगती है...उसके बाद तो एक रात में 2 बार भी चुदवाकर उसकी भूख नही मिटती थी..

पर अभी तो किस्स का खेल चल रहा था...उसने काजल और राहुल को जब एक दूसरे को किस्स करते देखा तो अपनी पत्नी को किसी दूसरे मर्द की बाहों में देखकर उसे उतनी जलन नही हुई जितनी वो सोच रहा था...वो शायद इसलिए की वहां का माहौल ही ऐसा बन चुका था...

उसके बाद तो एक-2 करके काजल ने सभी को चूमा...और अंत में अपने पति को भी...

इस तरह से एक हर्डल तो पार कर ही लिया था शशांक ने..

पर दूसरा नही कर पाया...

क्योंकि डिंपल के बाद जब नीरू का नंबर आया तो उसने सॉफ लफ़्ज़ों में बोल दिया की वो किसी को भी स्मूच नही करेगी....लेकिन सुमन और सबा के ज़ोर देने पर...और कपूर साहब के कहने पर उसने सभी के गाल पर एक-2 पप्पी देना स्वीकार कर लिया...



शशांक को अब अगली गेम की प्लानिंग करनी ही थी...

कुछ देर तक अपनी ड्रिंक्स पीने के बाद अगली गेम शुरू हुई..

और इस बार भी पिछला वाला रूल ही था...यानी सबसे छोटे पत्ते वाले की वाइफ शुरूवात करेगी..लेकिन वो क्या करेगी इसका निर्णय सिर्फ़ वही मर्द करेगा जिसका नंबर होगा...यानी सामने वाला उससे कुछ भी करवा सकता है...

सभी लोग समझ चुके थे की इस खेल में अब क्या होने वाला है, अपने-२ मन में सभी ये सोचने लगे की अब क्या करवाया जाए

इस बार शशांक इस गेम को उस पार लेकर जाना चाहता था...और उसकी इस गेम की प्लानिंग ही ऐसी थी की उस पार जाने से उसे कोई भी रोक नही सकता था.



शशांक का शैतानी दिमाग़ अब ये बात तो अच्छी तरह से जानता था की यही वो गेम है जिसके बाद सब पाबंदिया हट जाएँगी, उसके बाद जो वासना का नंगा नाच होगा वहां पर, उसी को देखने और महसूस करने के लिए उसने कई सालों तक मेहनत की थी...और उसकी मेहनत का फल अब जल्द ही मिलने वाला था...

सबा के बाद काजल ने भी उसे काफ़ी इंप्रेस किया था...उसने जैसा सोचा था ना तो सबा ही वैसी निकली और ना ही काजल...एक बार उनकी शर्म का परदा जो हटा था, उसके बाद तो दोनो ऐसे बिहेव कर रही थी जैसे बरसों से ये सब करती आई हो...

शशांक ने सुमन को एक कोने में लेजाकर अगली गेम कैसे खेलनी है ये समझा दिया...सुमन ने सबा और डिंपल को बाद में वही बात समझा दी...वैसे उनके लिए तो शशांक ने सिर्फ़ इतना ही कहलवाया था की अब जो जैसे बोलते जाए,उन्हे बिना किसी झिझक के वैसे ही करते चले जाना है...दोनो समझ गयी की अब वो घमासान चुदाई ज़्यादा दूर नही रह गयी जिसके बारे में उन दोनो ने सोच रखा था..

शशांक जानता था की उस कमरे में बैठे मर्दों में इतनी तो अक्ल है ही की जीतने के बाद कैसे इस खेल का मज़ा लेना है...

बस अगली गेम जल्द ही शुरू हो गयी..

राहुल ने पत्ते बाँटे.

सभी ने अपने-2 पत्ते उठा कर देखे..

शशांक के पास 1,2,3 का सीक़वेंस आया था....जाहिर था की वही सबसे बड़े पत्ते होंगे...और उसके हिसाब से उसका नंबर सबसे लास्ट में आना था...

गुरपाल के पास 2,4,6 आए थे...जो वाकई में काफ़ी छोटे थे...

राहुल के पास 2 का पेयर और बादशाह

गुप्ता जी के पास इक्का,बादशाह और 6 नंबर..

और कपूर साहब के पास बेगम , गुलाम और 8 नंबर..

यानी इस बार भी सबसे पहले गुरपाल से शुरूवात होनी थी...वो अपनी मर्ज़ी से,किसी की भी बीबी से, कुछ भी करवा सकता था...

गुरपाल जानता था की जो वो करवाना चाहता है उसके लिए शायद काजल और नीरू एकदम से तैयार ना हो...इसलिए उसने सबा को बुलाया...उसे भी इसलिए क्योंकि उस कमरे में बैठे सभी ठरकियों को सबा ही सबसे ज़्यादा पसंद है...वो जब अपने हुस्न का दीदार करवाएगी तो सभी की झिझक दूर हो जाएगी...

वो बोला : "मैं चाहता हूँ की सबा भाभी मुझे टिट फकिंग का मज़ा दे...''

अब बोलने को तो वो उसे चोदने की बात भी बोल सकता था, पर पहली ही बार में वो ऐसा करके नीरू को वहां से डराकर भगाना नही चाहता था....

सबा की तो चूत गीली हो गयी ये सुनकर...उसे पता था की गुरपाल का लण्ड काफ़ी बड़ा है, और काला भी,अपने मोटे और सफ़ेद मुम्मो के बीच उसके काले लण्ड को फंसाकर उसे मसलने के नाम से ही सिहर उठी...

वो मटकती हुई आगे आई, उसने अपनी साड़ी का पल्लू नीचे गिराया तो आधे से ज़्यादा मम्मे झाँकते हुए दिखाई दिए...वो गुरपाल के कदमो में बैठ गयी और उसने धीरे-2 अपने ब्लाउस की डोरियाँ खोल दी...

ब्लाउस के नीचे उसने ब्रा तो पहनी ही नही हुई थी...इसलिए डोरी खुलते ही उसके सफेद कबूतर फड़फड़ाते हुए बाहर निकल आए...गुरपाल तब तक अपनी पेंट को खोलकर नीचे खिसका चुका था और अपने हाथ में लंबे और काले लण्ड को मसलकर वो सबा के मुम्मे देख रहा था..



दूर बैठी नीरू और काजल तो सरदारजी के चमकते हथियार को देखकर बेहोश होते-2 बची...अभी तक जो खेल स्मूच तक सीमित था वो नंगेपन पर उतर आया था...सरदारजी को आजतक उन्होने एक अच्छे पड़ोसी की तरह देखा था, हमेशा उसे और इस कमरे में मौजूद हर आदमी को सिर्फ़ भाई साहब बोलकर ही सम्बोधित किया करते थे...लेकिन आज जब उनके लंड को देखा तो दोनो के चेहरे के रंग बदल गये...काजल तो बैठी-2 पनिया गयी...ऐसा लगा उसका सूसू निकल गया है...और नीरू तो उसके काले लंड को देखकर बस यही सोच रही थी की 'क्या इतना लंबा भी होता है किसी का...ये डिंपल का क्या हाल करता होगा..'

पर अभी तो हाल सबा का खराब हो रहा था...इतने करीब से जब कोई गुलाब जामुन और मोटा केला देख ले तो मुँह में पानी आना स्वाभाविक ही है...

सरदरजी के मुँह में भी पानी आ रहा था जब उन्होने लाल निप्पल वाले गोरे मुम्मे देखे सबा के..

सबा ने अपना ब्लाउस पूरा निकाल कर सोफे पर फेंक दिया...अब वो उपर से नंगी होकर अपना यौवन सभी को दिखा रही थी...नीरू अब भी सोच रही थी की क्या वो ऐसा कुछ कर पाएगी...वो भी उन लोगो के सामने जिनके साथ उसका रोज का उतना - बैठना है...पर जब उसने सबा के चेहरे के भाव देखे...और उस कमरे में मोजूद हर औरत और मर्द के चेहरे को देखा तो वो समझ गयी की ऐसा करने में सबा के साथ-2 उन सभी को भी मज़ा आ रहा है...पर वो ये कर पाएगी या नही,वो अभी तक डिसाईड नही कर पा रही थी...पर हाँ , अपनी चूत से निकल रहे गर्म पानी को वो रोकने में असमर्थ हुए जा रही थी...

सबा ने काले नाग को हाथ मे पकड़ा और धीरे-2 उसे पकड़ कर अपने मम्मों के बीच फँसा लिया...और गुरपाल की आँखो में देखकर मुस्कराते हुए उसने उसके लंड को मुम्मो के बीच की दीवारों में मसलते हुए उपर नीचे होना शुरू कर दिया...



वो ऐसा करते हुए अपनी गांड को भी हिरनी की तरह हिला रही थी जिसकी वजह से उसके बिल्कुल पीछे बैठे कपूर साहब का बुरा हाल हो गया...वो तो हमेशा से उसकी चौड़ी गांड के दीवाने रहे थे...काश वो पूरी नंगी होकर ये काम कर रही होती तो उसके लचकते कूल्हे देखकर वो अपना लंड रगड़ लेते...पर उन्हे अब ये आभास हो चुका था की यही हाल चलता रहा तो वो वक़्त भी दूर नही जब उसकी नंगी गांड भी सभी को देखने को मिलेगी...
Reply

01-18-2019, 01:54 PM,
#32
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
गुरपाल के लंड को मम्मों के बीच दबाकर उसने उसे मुँह में भी ले लिया....हालाँकि ऐसा करने के लिए गुरपाल ने नही कहा था पर उसके चॉकलेटी लंड को देखकर सबा के मुँह में पानी आ चुका था इसलिए उसका खुद पर कंट्रोल नही रहा और उसने लंड को मुँह में ले ही लिया....और जब लिया तो उसके बाद उसे छोड़ने का नाम ही नही लिया...वो अपने दोनो हाथों से उसकी गोटियों को मसलती हुई पूरी लगन से गुरपाल का लंड चूसने लगी...



गुरपाल के हाथ भी उसके मुम्मो पर आ टिके और वो उन्हे नींबू की तरह मसलने लगा...

जल्द ही गुरपाल की सिसकारियाँ गूँज उठी...कमरे में मोजूद हर शख्स उससे जल रहा था...औरतें ये सोचकर की काश वो क्यों नहीं है सबा की जगह और मर्द ये सोचकर की काश वो होते गुरपाल के बदले वहां पर...

लेकिन हर किसी का नंबर आना था, इसलिए सभी तसल्ली के साथ उनका ये शो देखते रहे..

और जल्द ही वो वक़्त आ गया जिसके लिए इतनी मेहनत की जा रही थी...गुरपाल के लंड ने भरभराते हुए अपना माल निकालना शुरू कर दिया...जो सीधा सबा के चेहरे पर गया...सबा ने उसके हिनहिनाते घोड़े को मुँह में लेकर बाकी का बचा हुआ वीर्य सीधा अपनी हलक में उतार लिया...ऐसा पंजाबी खाना वो वेस्ट नही करना चाहती थी...



उसके लंड को पूरा खाली करने के बाद वो उसे चमकाकर वहां से उठ गयी....कमरे में मोजूद सभी लोगो ने उसके लिए तालियाँ बजाई...और उन्हे सुनकर वो ऐसे खुश हो रही थी मानो वर्ड कप जीतकर आई हो...उसने अपना ब्लाउस उठाया और उसे बिना पहने ही टॉपलेस होकर वो अपनी सीट पर जाकर बैठ गयी...सारे ठरकी अभी भी उसके गोरे मुम्मे देखकर अपना-2 लंड मसल रहे थे...ये एहसास सबा को अंदर तक उत्तेजित कर रहा था..

अगला नंबर केपर साहब का था...

वो चाहते तो सबा के साथ कुछ करना थे पर वो अभी लॅंड चूस्कर उठी थी,इसलिए दोबारा उसे परेशान नही करना चाहते थे....वो कमरे में मोजूद हर औरत को देख रहे थे....बिल्कुल वैसे ही जैसे कोठे पर जाकर चुदाई से पहले रंडियों को देखा जाता है...अभी कुछ देर पहले जिस अंदाज में सुमन भाभी ने उनके लंड को छूकर उसमे हवा भरी थी, उसे ही दिमाग़ में रखकर उन्होने सुमन की तरफ इशारा कर दिया..

वो तो पहले से ही तैयार थी की कब उसका नंबर आए और कब वो सबके सामने कुछ नया पेश करे...

कपूर : "मैं चाहता हूँ ...की .... की ...''

वो थोड़ा झिझक रहे थे...शायद जो करवाना चाहते थे उसकी वजह से या फिर कमरे में मोजूद अपनी बीबी की वजह से...

सुमन : "अब बोलिए भी कपूर साहब....आप अगर ऐसा करेंगे तो गेम आगे कैसे बढ़ेगी ....आप बेझिझक कहिए क्या करवाना है मुझसे...आई प्रोमिस आपको निराश नहीं करूँगी...''

उसने ये बात उनके इतने करीब आकर कही थी की उसके मोटे मुम्मो की महक उनके नथुनों में भरी जा रही थी...

उन्होने एक ही झटके में बोल डाला : "मैं चाहता हूँ की आपके नंगे बदन को मैं उपर से नीचे तक चूमूं...''

कहना तो वो ''चाटना'' चाहता था,पर अपनी बीबी के डर से ''चूमू'' ही निकल सका उसके मुँह से...

सभी ये सुनकर हैरान रह गये की कैसे कपूर साहब एकदम से इस गेम को दूसरे सिरे तक पहुँचा रहे है...एक तरफ तो उनकी बीबी थी जिसने स्मूच करने से मना कर दिया था,और दूसरी तरफ उनके ये पति जो अपनी सारी हदें पार करने में कोई कसर नही छोड़ रहे थे...

पर सुमन ने कुछ ऐसा कहा जिसे सुनकर वहां मौजूद सभी लोग सकते में आ गये..वो बोली : "मुझे कोई प्राब्लम नही है...पर मेरी भी एक शर्त है,आपको भी मेरी तरह न्यूड होना पड़ेगा....''

अब बॉल कपूर साहब के कोर्ट में थी...नीरू के दिमाग़ से ये बात अभी उतर नही पाई थी की उसका पति कैसे नंगी सुमन को चूमेगा,उपर से सुमन ने ये कहकर तो हद ही कर दी थी...अब वो देखना चाहती थी की क्या उसके पति भी वैसा करने की हिम्मत रखते है जैसा सुमन करने को तैयार थी...

अब खेल काफ़ी रोमांचक हो चुका था...

लेकिन एक बात पक्की थी,मज़ा सभी को मिल रहा था.



सुमन बीच मैदान में खड़ी होकर कपूर साहब के आने का इंतजार कर रही थी...वो बेचारे अभी तक सकुचा रहे थे...सुमन ने शशांक की तरफ़ देखा तो शशांक ने उसे अपना काम करने को कहा...यानी अपने कपड़े उतारने को..

सुमन ने अपनी साड़ी खोलनी शुरू कर दी...नीचे उसने डिसाइनर ब्लाउज़ पहना हुआ था...और बहुत ही हल्के कपड़े का पेटीकोट ...जिसके अंदर उसकी टांगे सॉफ चमक रही थी...उसकी मोटी जाँघो को देखकर सभी के मुँह में पानी आ रहा था...

सुमन ने अपना पेटीकोट भी खोलकर नीचे गिरा दिया...ब्लाउज खोला तो एक पतली सी ब्रा ही रह गयी ...जिसे पकड़ कर उसने नीचे खिसका दिया...उसके गोरे-2 चाँद जैसे कटोरे सबके सामने उजागर हो गये...



उसने कपूर साहब की तरफ देखा...यानी वो उन्हे लालच दे रही थी की जल्दी अपने भी कपड़े उतारो ताकि वो भी अपने ये बचे हुए कपड़े उतार कर शर्त को पूरा कर सके...

कपूर साहब की तो हालत खराब हो चुकी थी....

अब उन्हे एहसास हो रहा था की भरी महफ़िल में एक औरत को नंगा करना कितना आसान है और खुद कपड़े उतारना कितना मुश्किल...

लेकिन सुमन का नंगा बदन उन्हे हिम्मत प्रदान कर रहा था..उसके अर्धनग्न बदन को देखकर उन्हे ऐसा लग रहा था की मानों उनकी धड़कन ही रुक जाएगी...ऐसा सेक्सी नज़ारा उन्होने आज तक नही देखा था जहाँ ऐसी सेक्स से भरी औरत धीरे-2 अपने कपड़े उतार रही है जो उनकी सोसायटी की सेक्स सिंबल कहलाती है...

उसकी चिकनी जाँघो और गोरे मुम्मो को देखकर उनके मुँह में पानी आ गया...क्योंकि उसे ही चूमने और चूसने वाले थे वो कुछ ही देर में ...लेकिन उसके लिए उन्हे अपने कपड़े भी तो उतारने पड़ेंगे...उन्होने अपनी पत्नी नीरू की तरफ देखा की कही वो गुस्सा करके तो नही बैठी है...पर वो ये देखकर हैरान रह गये की उसका सारा ध्यान तो सुमन के आधे नंगे बदन की तरफ था...

वो उसके उभारों और कच्छी में फंसी चूत को देखकर ऐसे गहरी साँसे ले रही थी जैसे वो कोई मर्द हो...

यानी कमरे में मोजूद दूसरे मर्दों की तरह वो सुमन के नंगे होते बदन को देखकर उत्तेजित हो रही थी...

ये बात शशांक ने भी नोट कर ली...

वो समझ गया की नीरू को कैसे लाइन पर लाना है...

जब कपूर साहब ने देखा की उनकी बीबी तो खुद इस खेल का मज़ा ले रही है तो उन्होने झट से अपने कपड़े उतारने शुरू कर दिए..

उन्होने आनन-फानन में अपनी पेंट उतार दी...अपनी शर्ट भी खोल दी...और सुमन के करीब आकर खड़े हो गये...

उत्तेजना की वजह से उनके लंड का इतना बुरा हाल था की उसका सुपाड़ा उनके अंडरवीयर से बाहर झाँक रहा था...

सुमन ने जब उनके लंड के टोपे को बाहर निकलकर चमकते देखा तो उसके मुँह में पानी आ गया...और वो झट से उनके कदमो में बैठ गयी और एक ही झटके में उसने उनके अंडरवीयर को पकड़ कर नीचे खिसका दिया...



उनका फुंफकारता हुआ लंड एक ही झटके में सबके सामने प्रकट हो गया...सभी की चुतो में नमी फैल गयी और ना चाहते हुए भी सब औरतों के मुँह से एक सिसकारी निकल गयी...कपूर साहब के लंड को देखकर सभी ने एक बार फिर से तालियाँ बजाई...अपने लॅंड की ऐसी आवभगत होती देखकर कपूर को भी थोड़ा होसला मिला और वो मुस्कुराते हुए अपने लंड को पकड़कर मसलने लगे...

कपूर साहब अब पूरी तरह से नंगे होकर बीच बाजार खड़े थे..



उनके कसरती बदन को देखकर सभी औरतों के मुंह से आह सी निकल गयी

उन्होने सुमन को भी इशारा करके अपने बचे हुए कपड़े उतारने को कहा...

सुमन ने अपनी ब्रा खोल दी और उसे नीचे फेंक कर अपने मोटे मुम्मे हिलाती हुई उठ खड़ी हुई




कपूर साहब से सब्र नही हुआ और उन्होने सुमन की ब्रैस्ट पकड़ कर उन्हे चूम लिया...

सुमन ने भी उनके सिर के पीछे हाथ रखकर उन्हे छोटे बच्चे की तरह अपनी छाती से चिपका लिया और अपना सिर उपर करके अपना दूध उसके मुँह में अर्पित कर दिया.
Reply
01-18-2019, 01:54 PM,
#33
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
कपूर साहब ने अपना काम शुरू कर दिया...अपनी गीली जीभ निकाल कर वो किसी कुत्ते की तरह सुमन के शरीर को चाटने लगे...उसे चूमने लगे...अपने दोनो हाथों में उसके मुम्मो को भी दबा रहे थे...अपने हाथ नीचे लेजाकर उन्होने सुमन की कच्छी भी फाड़ डाली जैसे आज के बाद उसका इस्तेमाल ही नही होगा...कच्छी फटते ही सुमन भी उपर से नीचे तक पूरी नंगी हो गयी....

आज कपूर साहब और दूर बैठे गुप्ता जी ने पहली बार सुमन भाभी को नंगा देखा था...राहुल और सरदारजी तो कल रात उसका रसपान भी कर चुके थे

जैसा कटीला बदन उनका सूट या साड़ी में दिखता था, नंगा होने के बाद उससे कही ज़्यादा आकर्षक लग रहा था वही बदन...



कपूर तो अपना लंड उनके पूरे बदन पर ऐसे रगड़ रहा था जैसे लंड की खुजली दूर करने का यही एकमात्र तरीका है...

सुमन के हाथ भी कपूर के पूरे बदन और ख़ासकर उसके लंड पर फिसल रहे थे....उसके लंड को पकड़ कर उसकी प्यास और भी ज़्यादा बढ़ती जा रही थी...और जब उसके होंठों से लार टपक कर बाहर गिरने लगी तो वो नीचे झुकी और अपने लार टपकाते मुँह के अंदर उसने कपूर साहब का पंजाबी लंड ले लिया और उसे अपनी थूक से तर बतर करने के बाद जोरों से चूसने लगी...



ऐसा उत्तेजना से भरा दृशय देखकर कमरे में मोजूद हर शख्स अपनी सीट से उठ खड़ा हुआ...अपनी गीली चूत और खड़े हुए लंड के साथ बैठना उन लोगो के लिए बड़ा मुश्किल हो रहा था.

ऐसा उत्तेजना से भरा दृशय देखकर कमरे में मोजूद हर शख्स अपनी सीट से उठ खड़ा हुआ...अपनी गीली चूत और खड़े हुए लंड के साथ बैठना उन लोगो के लिए बड़ा मुश्किल हो रहा था.

राहुल के बिल्कुल करीब डिंपल सरदारनी खड़ी थी...राहुल ने उसकी कमर पर हाथ रखकर उसे अपने आगे खड़ा कर लिया...वो भी बिना कुछ बोले उसके खड़े लंड के आगे आकर खड़ी हो गयी और अपनी गद्देदार गांद को उसने राहुल के लंड पर जोरों से दबा दिया...

दोनो ने कपड़े पहने हुए थे वरना राहुल का खड़ा हुआ लंड एक ही बार में उसकी चूत के अंदर जा घुसता...उनके करीब खड़े सरदारजी ने अपनी बीबी को ऐसा करते देखा और मुस्कुरा दिए...वो समझ गये की आज वो सबसे पहले राहुल का ही लंड लेगी अपनी चूत में ..

नीरू भी अपनी सीट से उठकर उनका खेल देख रही थी...अपने पति के इस लंबे और मोटे लंड को उसने अपने बेडरूम के अंधेरे कमरे में ना जाने कितनी बार चूसा था...ना जाने कितनी बार उसे अपनी चूत में डलवाया था...और आज वही लंड उसकी फ्रेंड ऐसे चूस रही थी मानो वो उसी का पति हो....

अपने पति को इस तरह किसी दूसरी औरत से शेयर करना थोड़ा अजीब था मगर ऐसे माहौल में , जहाँ कोई भी अपने पति या बीबी को शेयर करने में कंजूसी नही कर रहा था, उसकी वजह से वो भी कुछ नही बोली...

सबा जो काफ़ी देर से टॉपलेस होकर बैठी थी, अपने बूब्स को अपनी ही उंगलियो से मसलने लगी...ऐसा करते हुए उसके मुँह से मस्ती भरी सिसकारियाँ भी निकल रही थी...उसके बिल्कुल करीब बैठे गुप्ता जी कभी उसे देखते और कभी सामने लंड चूस रही सुमन को...उनके लंड का प्रेशर दोनो हुस्न परियों को देखकर बढ़ता जा रहा था.

कपूर साहब के लंड ने जल्द ही जवाब दे दिया और उनकी गन से धड़ाधड़ गोलियाँ निकलनी शुरू हो गयी...जिसे सुमन ने अपने मुँह में लेकर पी लिया...



सभी ने दोनों के लिए जोरदार तालियाँ बजाई...

कपूर साहब ने अपनी बीबी की तरफ देखा...दोनो ने आँखो ही आँखो में कुछ बात की और फिर मुस्कुरा दिए...अब सब कुछ नॉर्मल था...

उन दोनो की हँसी को शशांक ने भी नोट किया...वो समझ तो गया था की नीरू अब लाइन पर आ गयी है..लेकिन उसको नंगा करना अब भी इतना आसान नही था...पर उसके लिए अब शशांक के पास एक फुलप्रूफ आइडिया था..

अब अगला नंबर गुप्ता जी का था..क्योंकि कपूर साहब से थोड़े बड़े पत्ते उनके आए थे...इक्का बादशाह और 6 नंबर..

गुप्ता जी के मन में तो अजीब सी खलबली मची हुई थी...कुछ देर पहले उनकी बीबी काजल ने जिस अंदाज में स्मूच की थी उसके बाद उनका वो डर तो दूर हो चुका था की वो क्या सोचेगी...पर सुमन और सबा की तरह क्या वो सब कुछ कर पाएगी जो यहाँ बैठा हर इंसान सोच रहा है...ये उनकी समझ में नही आ रहा था...

आज तक वो अपने दोस्तो के साथ बैठकर सिर्फ़ सबा के हुस्न और उसे चोदने की बातें किया करते थे...लेकिन ये माहौल ऐसा बन चुका था की हर किसी की बीबी ने खेल में शामिल होकर उसे एक नया आयाम दे दिया था... पर गुप्ता का लंड अभी भी सबा का ही नाम लिए जा रहा था

गुप्ता जी की नज़रों में सबा के मोटे मुम्मे चमक रहे थे....थोड़ी देर पहले सुमन और कपूर को देखकर जिस अंदाज में वो अपनी ब्रेस्ट दबा रही थी,उसने तो गुप्ता को और भी ज़्यादा उत्तेजित कर दिया था...इसलिए उनके निशाने पर सिर्फ़ और सिर्फ़ सबा ही थी...

सभी लोग गुप्ता जी को देख रहे थे की कब वो अपनी इच्छा बताए ताकि गेम आगे बढ़ सके...

गुप्ता जी ने धीरे से कहा : "मैं चाहता हूँ की स.....सबा अपने सारे कपड़े उतारकर सभी के सामने मास्टरबेट करे और बाद में मेरे लंड को तब तक चूसे जब तक उसमे से माल नही निकल जाता....और उसे बिना नीचे गिराए पीना भी होगा...''

सभी की कसक भरी सिसकी निकल गयी ये सुनकर....

ऐसा तो वो लोग तब सोचा करते थे जब सबा के बारे में बाते करते हुए वो दारू पिया करते थे...

उन्ही बातों में से एक ये भी थी की उसे नंगा करके अपने लंड का पानी उसकी हलक में उतारना है...और उसको मास्टरबेट करते देखने की बात शायद इसलिए कही थी ताकि वो उसके नंगे बदन को अच्छी तरह से देखना चाहते थे

और वो भी बीच चौराहे पर...

अब ये बीच चौराहा तो नही था पर उससे कम भी नही था...

सोसायटी की 5 फैमिली के बीच नंगा होकर किसी दूसरे मर्द का लंड चूसना..और वो भी एक नयी ब्याही हुई औरत के लिए थोड़ा मुश्किल ज़रूर है...पर सबा के लिए तो ये मज़ा देने वाला खेल था...वो तो कब से अपनी गीली चूत लिए कुलबुला रही थी की दोबारा उसका नंबर कब आएगा....

राहुल ने सबा को देखा और पूछा : "सबा...क्या तुम ये करना चाहती हो....''

उसे भला क्या प्राब्लम होनी थी...वो तपाक से बोली : "बिल्कुल......हद से ज़्यादा ....''

और इतना कहते हुए वो अपने नंगे मुम्मे हिलाती हुई उठ खड़ी हुई और गुप्ता जी के सामने आकर खड़ी हो गयी...



अब सभी को उसके कपड़े उतारने का इंतजार था...आज वो लोग पहली बार उस गोरी हिरनी को पूरा नंगा जो देखने वाले थे..


सबा बढ़ी मादकता से चलती हुई गुप्ता जी के पास आई और उनका हाथ पकड़कर उन्हे बीच मैदान तक ले गयी... गुप्ता तो किसी रोबोट की तरह चलता हुआ सबा के साथ आकर खड़ा हो गया...उनका लंड भी खड़ा था नीचे पर वो अभी के लिए किसी को दिखाई नही दे रहा था..बस उसका एहसास हो रहा था.

सबा के मोटे और गोरे मुम्मों को इतने करीब से देखकर गुप्ता से सब्र नही हो रहा था...उसका मन तो कर रहा था की उन्हे पकड़कर जोरों से मसल दे..निचोड़ डाले उन मुम्मो को... काट कर लाल कर दे... तब तक उन्हे चूसे जब तक वो लाल सुर्ख ना हो जाए..गुप्ता जी ने ये बात भी नोट की कि अपने मुम्मो पर गुप्ता की नज़रें पाकर वो भी कसमसा रही है और परिणामस्वरूप उसके निप्पल पहले से ज़्यादा कड़े होकर बाहर निकल आए.
Reply
01-18-2019, 01:55 PM,
#34
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
सबा ने अपने पेटीकोट का नाड़ा खोला और उसे नीचे गिरा दिया...उसका पेटीकोट क्या गिरा,कमरे में मोजूद हर आदमी ब्लॅड प्रेशर गिर गया ..

उसकी गोरी और चिकनी टाँगो को देखकर हर किसी के मुँह में पानी आ गया...इतनी मोटी जाँघे थी उसकी की हर किसी का मन कर रहा था की उसपर शहद लगाकर अपनी जीभ से चाट डाले..उसके माँस को अपने दांतो तले दबाकर उसका रस निचोड़कर पी जाए..वो मचलती रहे पर उसपर बिना दया किए सब उसे चूसते चले जाए...

पर अभी के लिए तो वो सिर्फ़ सोच ही सकते थे...पर गुप्ता तो वो काम कुछ देर में करने ही वाला था जो सब सोच रहे थे...

अब वो सिर्फ़ एक नन्ही सी ब्लेक कच्छी में सबके सामने खड़ी थी..

उसने अपने दोनो मम्मों को पकड़कर ज़ोर से दबाया और हाथ उपर करके अपनी कमर को लहरा कर अपना मांसल शरीर सभी को दिखाया.



उसके शरीर की लचक देखकर सब समझ गये की इसकी चुदाई करने में बहुत मज़ा आने वाला है..चुदाई के दौरान इसे जितना भी तोडो-मरोड़ो , ये सहन कर लेगी...आख़िर शरीर था ही उसका इतना लचीला..

और फिर उसने अपनी कच्छी में हाथ फँसा कर उसे भी नीचे खिसकाना शुरू कर दिया..

दीवानो के तो दिलों में छुरिया चल गयी जब उसके गांड के चाँद जैसे गोरे-2 कटोरे उस काले बदल से बाहर निकले.और अगले ही पल वो पूरी नंगी होकर सभी के सामने खड़ी थी.



उसकी गाँड , जिसके बारे में सोचकर गुप्ता और कपूर समेत सभी ठर्कियों ने ना जाने कितनी बार अपनी बिबीयों की चूत बजाई थी, वो अब सभी के सामने नग्न अवस्था में थी..

गुप्ता जो उसके बिल्कुल करीब खड़ा था , उससे तो सब्र ही नही हुआ, उसने अपने हाथ में पकड़ा शराब का ग्लास उसकी गांड पर उडेल दिया..

शराब में नहाकार सबा का शबाब और भी कातिलाना हो गया..

उसने अपनी मोटी और भरी हुई गांड पर हाथ रखकर उसे थिरकाया...और उसपर जमी हुई शराब की बूंदे झर-2 करके नीचे गिरने लगी..



ऐसी मस्त गांड आज तक किसी ने नही देखी थी...

कमरे में मोजूद औरतों ने भी उसकी उभरी हुई गांड की दिल से तारीफ की...पर साथ ही साथ वो उससे जल भी रही थी

एक तो पहले से ही सबा सबसे ज़्यादा खूबसूरत थी...सबसे छोटी उम्र भी उसी की थी...और शादी को कुछ टाइम ही हुआ था,इसकी वजह से जो उसके शरीर मे मादकता भरी थी, उसका तो जवाब ही नही था किसी के पास...

इसलिए उसके नंगे शरीर को देखकर मर्द तो मर्द, औरतें भी अपने होंठों पर जीभ फिरा रही थी..

पर सबसे ज़्यादा तो उसके नंगे शरीर और गीली गांड को देखकर मिसेस कपूर यानी नीरू सम्मोहित हुई थी...

वो एकटक उसके सुंदर और नंगे शरीर को देखे जा रही थी मानो आँखो ही आँखो में उसे खा जाएगी..

गुप्ता ने आख़िर वो कर दिया जो उसके मन में ना जाने कब से था...

वो आगे बड़ा और नीचे बैठकर उसने अपना मुँह सबा की गीली गांड के अंदर घुसा दिया...और उसके शरीर से टपक रही शराब की बूँदों को अपनी गर्म जीभ से चाट कर सॉफ करने लगा...

सबा तो खड़ी-2 पनिया गयी.

और उसकी पनियाई चूत से ढेर सारी देसी दारू निकलकर उस विदेशी शराब में घुल गयी, और नीचे कुत्ते की तरह अपनी जीभ निकाले उसकी जांघे चूस रहे गुप्ता ने वो भी पी डाली..

सबा को ऑर्गॅज़म बड़ी जल्दी-2 आते थे,इसलिए गुप्ता की गर्म जीभ की चुभन से ही वो झड़ गयी थी...

और झड़ने के बाद वो निढाल सी होकर वहीं ज़मीन पर बैठ गयी..



अपने बालों को उपर करके जब बढ़े ही कातिलाना अंदाज से उसने सभी को देखा तो पंटरों के लंड पूरी अकड़ के साथ उसको सलामी देने लगे..

उसके हुस्न ने उस कमरे में चार चाँद लगा दिए थे..असली दिवाली की जगमग तो अब हुई थी

गुप्ता भी उसके रसीले बदन को घूरता हुआ , धीरे-2 अपने कपड़े निकालने लगा..

और कुछ ही देर में वो सिर्फ़ अपने अंडरवीयर में खड़ा था.

सबा ने जब उसके कच्छे में खड़े सिपाही का आकार देखा तो वो सिसक उठी...और उसने मन ही मन सोच लिया की आज वो सबसे पहले इसी गुप्ता का बनियोटा लंड लेगी अपनी गर्म चूत में.

पर गुप्ता जी की विश के हिसाब से तो अभी उसे गेम की हद में रहते हुए सिर्फ़ मास्टरबेट ही करना था...

इसलिए उसने अपनी गोरी-2 उंगलियों को अपनी गीली-2 चूत के दरवाजे में रखकर ज़ोर से दबाया

और वो गोरी-2 उंगलिया,किचकिचाती हुई सी,उसके अंदर घुसती चली गयी..
Reply
01-18-2019, 01:55 PM,
#35
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
सामने बैठे दर्शकों ने सॉफ देखा की उसकी चूत के गुलाबी होंठों ने किस बुरी तरह से उसकी उंगलियों को जकड़ रखा था..ऐसा लग रहा था जैसे कोई पिंक लिप्स वाली मछली उसकी उंगलियों को चबा रही है..

सबा ने अपनी बीच वाली उंगली को अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया..

सामने बैठे दर्शकों ने सॉफ देखा की उसकी चूत के गुलाबी होंठों ने किस बुरी तरह से उसकी उंगलियों को जकड़ रखा था..ऐसा लग रहा था जैसे कोई पिंक लिप्स वाली मछली उसकी उंगलियों को चबा रही है..

सबा ने अपनी बीच वाली उंगली को अंदर-बाहर करना शुरू कर दिया..

*****************************

गुप्ता ने भी अपने अंडरवीयर को नीचे गिराकर अपने शेर को सभी के सामने पेश कर दिया.
उसका लंड एकदम काला था पर साथ ही मोटा और जानदार भी.... उसे देखकर सबा का एक छोटा सा ऑर्गॅज़म झट से हो गया...

वो लालसा भरी नज़रों से उसके खड़े हुए लंबे लंड को देख रही थी...वैसे कुछ ही देर में वो उसे चूसने भी वाली थी,पर चूत में कब जाएगा ये निगोडा,ये सोचकर वो अपनी चूत में उंगलियाँ और तेज़ी से पेलने लगी..

और पेलते -2 उसके अंदर एक जबरदस्त ओर्गास्म का निर्माण हो गया...

वो अपनी सोच में गुप्ता के लंड के ठीक उपर खड़ी थी...

वो कांपती हुई सी उठी और आँखे बंद करके उसके लंड के बारे में सोचती हुई दीवार से जा सटी..

और अपनी आँखे बंद किये, छोटे से सपने में डूबकर उसने गुप्ता के लंड को अंदर ले भी लिया...

और ऐसा महसूस करते हुए उसने अपनी चूत में दो उंगलियाँ और डाल दी, ताकि गुप्ता के लंड जैसी फील आ सके..

अब वो अपनी एक ब्रेस्ट को पकड़कर बड़ी ही लगन से अपनी 3 उंगलियों को चूत में डालकर सिसकारी मार रही थी..



ऐसा उत्तेजना से भरा सम्मोहित कर देने वाला दृष्य देखकर सभी ने अपने-2 लंड मसलने शुरू कर दिए..

राहुल भी अपनी बीबी के इस रंडीपन को देखकर हैरान था...

हालाँकि वो उसकी बीबी थी और आज तक लगभग रोज वो उसकी चूत मारता चला आया था, पर उसका ऐसा तमाशा देखकर वो भी उसके प्रति एक बार फिर से आकर्षित हो गया...और उसे चोदने के बारे में सोचने लगा..

पर आज के लिए तो उसकी प्लेट में काफ़ी व्यंजन थे, इसलिए अपनी बीबी को उसने दूसरो के लिए और अपने आप को हर किसी के लिए छोड़ दिया.

डिंपल सरदारनी उसके लंड से गांड सटा कर खड़ी थी, वो भी उसके लंड के बढ़ते हुए तापमान को महसूस कर पा रही थी...उसने हाथ पीछे करके उसके लंड को पेंट के उपर से ही पकड़कर सहला दिया और फिर बड़ी ही बेशर्मी से उसकी जीप खोलकर अपना हाथ अंदर डाल दिया...

राहुल तो अपने पंजों पर खड़ा हो गया...डिंपल ने अपने जादुई हाथ की मदद से उसके शेर को पिंजरे से बाहर निकाल लिया...और उसके नंगे लंड को अपनी गांड पर दबा कर अपनी आँखे बंद कर ली...

अब वो उसके लंड को थोड़ा और करीब से महसूस कर पा रही थी.

पर उनकी तरफ तो किसी का ध्यान था ही नही...सभी की नज़रें सबा के नंगे शरीर पर थी...वो बड़ी ही लगन से अपनी चूत में उंगलियाँ डालकर मास्टरबेट कर रही थी..उसकी साँसे और सिसकारियाँ तेज होने लगी..



गुप्ता जी समझ चुके थे की वो अब कभी भी झड़ सकती है...इसलिए वो नंगे ही चलते हुए आगे आए और उसकी टाँगो के बीच बैठ गये...वो उसकी देसी शराब को एक बार निकलता हुआ देखना चाहते थे.

सबा, जो अभी तक बंद आँखो के पीछे से गुप्ता का लंड अपनी चूत में पिलवा रही थी, उनको एकदम से सामने देखकर सिहर उठी...और जब उसकी नज़रें उनके लंड पर गयी तो रही सही कसर भी पूरी हो गयी....और वो बड़ी ही ज़ोर से चिल्लाती हुई, गरजती हुई, गुप्ता के उपर बरस गयी...

''ऊऊऊऊऊऊऊऊऊहह गुप्ता जी........ मैं तो गयी...''

और इतना कहकर उसने अपनी छोटी सी टोंटी चला दी उनकी छाती पर...

उसकी चूत से गर्म पानी की बौछार निकलकर सीधा गुप्ता के ऊपर गिरी

वो गर्म पानी उसकी चूत का था, जो किसी मर्द के माल की तरह उछल कर बाहर निकल आया था ...

ऐसा दृश्य वहां बैठे मर्दों और औरतों ने पहली बार देखा था..

सभी ने एक साथ तालियाँ बजाकर उसके झड़ने की तारीफ की..

पर पिक्चर अभी बाकी थी...

उसकी छोटी सी पिचकारी के बाद सबा की चूत और भी ज़्यादा फूल गयी....ऐसा लगा उसकी चूत में किसी ने हवा भर दी हो जो कभी भी किसी गुब्बारे की तरह फट सकती थी...

और कोई कुछ सोच पता, उससे पहले ही उसकी चूत से एक पीले रंग की तेज धार निकलकर गुप्ता को भिगोने लगी..

वो उसकी चूत से निकल रहे गोल्डन पेशाब का झरना था...



और उसके उस गोल्डन पानी के नीचे बैठे गुप्ता को ऐसा लग रहा था जैसे वो कुल्लू मनाली में किसी पहाड़ी के नीचे खड़े होकर नहा रहा है...उपर से झरना झना-झन गिर रहा है और उसका शरीर उसके नीचे गीला हो रहा है...

ऐसा तो आज तक गुप्ता की सात पुश्तों ने सपने में नही सोचा था जो उसके साथ हो गया था...

और गुप्ता इससे बहुत ज़्यादा उत्तेजित भी हो उठा...

किसी औरत की चूत से निकले झरने के नीचे नहाने का उसका पहला अवसर था...जिसे उसने हदद से ज़्यादा एंजाय किया...

और अपनी चूत से आख़िरी बूँद तक गुप्ता के उपर टपकाकर सबा निढाल सी होकर उनके उपर ही गिर पड़ी...

गुप्ता ने उसके बेजान हो चुके शरीर को अपनी बाहों में भरा और उसे बेतहाशा चूमना शुरू कर दिया...

और कुछ ही देर में सबा ने भी उसकी चुम्मियों का जवाब देना शुरू कर दिया...भले ही वो 2-3 बार झड़ चुकी थी,पर उसकी चूत की आग अभी तक बरकरार थी..

पर वो अभी तक उस गेम के रूल्स में बँधी हुई थी...वरना अभी के अभी गुप्ता के लंड के उपर बैठ कर उसे निगल लेती...

पर अभी के लिए तो उसे उसके लंड को चूसना था...
Reply
01-18-2019, 01:55 PM,
#36
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
इसलिए सबा ने गुप्ता को किसी राजा की तरह वापिस उसकी चेयर पर लेजाकर बिठा दिया और खुद उसके सामने दासी बनकर बैठ गयी.

अब गुप्ता की वो महीनो पुरानी इच्छा भी पूरी होने वाली थी,जिसमें वो अपने उस काले भूसंड लंड को उस गोरी मेम के होंठों के बीच दबा हुआ देखना चाहता था...


सोचो, कैसा लगे किसी इंसान को जब उसके सपनो की रानी, जिसे देखकर वो रात दिन अपना लंड सहलाया करता है,वो उसके सामने एकदम नंगी होकर बैठी हो...



गुप्ता को इस वक़्त सबा के सिवा कुछ और नज़र नही आ रहा था... पूरे कमरे में कौन क्या सोच रहा है,उसे कुछ फ़र्क नही पड़ रहा था...सबा की चूत का पानी पीने के बाद तो उसे नशा सा चढ़ चुका था, जिसके बाद वो सारी दुनिया भूलकर बस उसके बारे में ही सोच रहा था..

सबा ने अपना चेहरा आगे किया और किसी नाग की तरह अपना फन आगे करके उसने गुप्ता के लंड को डस लिया...यानी अपनी गीली जीभ लगा दी वहां ...वो तो कुर्सी से उछल ही पड़ा जब उसने थूक से लिसडी गुलाबी जीभ को अपने लंड पर हमला करते देखा...वो चाहता तो उसके हमले का मुँह तोड़ जवाब दे सकता था...उसे पटककर...उसके उपर चड़कर...उसकी चूत में वही लंड पेलकर जिसे वो मज़े ले-लेकर छेड़ रही है...

पर वो उससे लंड चटवाई के अलावा कुछ और करवा ही नही सकता था...इसलिए वो रोबोट की तरह अकड़ कर बस उसके अगले हमले का इंतजार करने लगा..

और अगला हमला बहुत ख़तरनाक था सबा का....

उसने अपना पूरा का पूरा मुँह खोला और उसके खड़े हुए लंड को धीरे-2 करके अपने मुँह के अंदर निगल गयी...गुप्ता को ऐसा लगा जैसे उसका पूरा खून सिर्फ़ लंड में ही दौड़ रहा है...बाकी का शरीर तो सुन्न सा पड़कर रह गया...



सबा को शायद उसके लंड का स्वाद कुछ ज़्यादा ही पसंद आ गया था...वो उसके मटन के टुकड़े को बुरी तरह से निचोड़कर खाने लगी...गुप्ता ने उसके सिर को पीछे धकेलते हुए ज़ोर से चिल्लाया : "आआआआआहह कुतिया ...... धीरे चबा.....''

ये वो हमेशा आज तक अपनी बीबी को बोलता आया था...पर इस तरह वो दूसरे की बीबी को कुतिया बोलेगा, ये शायद किसी ने नही सोचा था...

पर सबा को तो ये जैसे अपनी तारीफ लगी...

वो उसके लंड को बाहर निकाल कर फुसफुसाई : "उम्म्म....... साले .....कुतिया बोला है ना.... अब देख ये कुतिया तुझे कैसे काटेगी....''

इतना कहकर सबा ने उसके लंड को किसी ट्रॉफी की तरह उपर की तरफ उठा लिया और खुद उसके लंड के नीचे घुसकर उसके दोनो गुलाब जामुनों को निगल गयी....और उन्हे अपनी जीभ और दाँतों से ऐसे चुभलाने लगी की गुप्ता के लिए अपनी गांड टिकाना मुश्किल हो गया चेयर पर...वो उठ गया...पर सबा किसी पालतू कुतिया की तरह उसके टट्टो से चिपकी रही...वो उन्हे छोड़ ही नही रही थी...ऐसे चूस रही थी उन्हे जैसे उनमे से कोई शरबत निकल रहा हो....




देखने वालों की हालत खराब थी....

राहुल तो अपनी बीबी के इस कुतियापन को देखकर हैरान हुए जा रहा था...ऐसी बेदर्दी और उत्तेजना के साथ तो वो उसके साथ भी पेश नही आई थी....उसका खुद का लंड इस वक़्त डिंपल के हाथ में था....राहुल के हाथ सरदारनी के मुम्मों को मसल रहे थे...वो भी अपना भार उसके उपर डालकर अपनी पीठ उसके जिस्म से चिपकाकर खड़ी हुई थी...

कपूर का लंड भी आपे से बाहर हो रहा था...उसने उसे बाहर निकल लिया और रगड़ने लगा....

सरदारजी तो खुले सांड़ की तरह इधर उधर घूम रहे थे...उन्हे अब किसी भी कीमत पर कोई चूत चाहिए थी...जिसके अंदर अपने लंड को पेलकर वो अपनी आग निकाल सके...उसने देखा की गुप्ता जी की बीबी काजल बड़े ही सम्मोहित तरीके से अपने पति की रास लीला देख रही है...वो उसके पास आया और धीरे से अपना हाथ उससे टच करवा दिया...दोनो ने एक दूसरे की तरफ देखा और आँखो ही आँखो मे जैसे काजल ने कोई इशारा किया...और सरदरजी ने अगले ही पल उसे अपने गले से लगाकर उसे स्मूच कर लिया...



ये सब इतनी जल्दी हुआ की काजल को भी पता नही चला...लेकिन गुरपाल की बलिष्ट बाजुओं मे आकर उसे ये एहसास हुआ की इस सरदार से चुदाई करवाकर कितना मज़ा आएगा....पर अभी के लिए वो खुल कर कुछ भी नही करना चाहती थी...उस कमरे मे मोजूद हर इंसान को पता था की कुछ देर बाद क्या होने वाला है...लेकिन जब तक शुरूवात नही होती,वो खुद अपनी तरफ से पहल नही करना चाहते थे....लेकिन इतना ज़रूर कर सकते थे जो इस वक़्त राहुल और डिंपल कर रहे थे...चूमा चाटी , मसलम मसलाई...

गुरपाल से सब्र नही हुआ और उसने काजल का टॉप उपर खिसका कर उसके मुम्मे बाहर निकाल लिए और ज़ोर-2 से उसे चूसने लगा...



दूर बैठा शशांक कमरे में चल रहे इस खेल को पूरी तरह से एंजाय कर रहा था...उसकी नज़र हर किसी पर थी...कपूर साहब तो खुद ही अपने लंड को मसल कर खड़ा करने में लगे थे...

अब सिर्फ़ नीरू ही बची थी, जो अभी तक अपने दायरे में रहकर ही सब कुछ कर रही थी...

वो सोच ही रहा था की उसे कैसे उसके दायरे से निकाला जाए की गुप्ता जी की चीखे निकलनी शुरू हो गयी.... सबा की चुसाई ने उन्हे ऑर्गॅज़म के करीब ला दिया था...अब सभी आतुर नज़रों से उनकी तरफ देखने लगे...

और आख़िरकार गुप्ता जी ने कोई भी कंजूसी किए बिना, अपने लंड का पानी सबा के उपर उड़ेलना शुरू कर दिया..

एक के बाद एक सफेद धार सबा के गोरे शरीर पर गिरी...और उसे और भी निखार दिया..

एक बार फिर से कमरा सभी की तालियों से गूँज उठा...

इस बार तो सबा इतनी बेफिक्री सी हो गयी की उसने अपने शरीर को भी सॉफ करने की जहमत नही उठाई...बस ज़मीन से उठकर वापिस सोफे पर जाकर ऐसे ही बैठ गयी...नंगी...और अपनी उंगलियों से अपने शरीर पर गिरी बारिश की बूँदों को इकट्ठा करके चाटने लगी..



एक बार फिर से दारू का दौर चला....सबने अपने-2 ग्लास ख़त्म किए और अब सबकी नज़रें राहुल की तरफ थी...क्योंकि गुप्ता से बड़े पत्ते राहुल के थे...उसके पास 2 का पेयर आया था.

राहुक से अभी तक डिंपल सरदारनी चिपकी हुई थी...इसलिए वो उसे पकड़कर बीच में आ गया...यानी वो जो कुछ भी करना या करवाना चाहता था वो उसके साथ ही...सरदारनी की अदाएँ उसे कुछ ज़्यादा ही पसंद आ गयी थी...

पर कुछ शुरू होता उससे पहले वो बोला : "मैं चाहता हूँ की डिंपल भाभी और काजल भाभी मिलकर मुझे खुश करे...''

"खुश" बोलते हुए उसने कुछ ज़्यादा ही ज़ोर दिया...

वैसे भी इस कमरे मे किस तरह की खुशी बंट रही थी,सभी को पता था...

उसने शशांक की तरफ देखा और बोला " ऐसा कर सकते है ना सर...''

राहुल एक ही बार में डबल मज़ा लेना चाहता था...

ऐसा अगर सबको मालूम होता तो सभी 2 के साथ मज़ा लेते....

सभी मर्दों ने एडमिन यानी शशांक की तरफ देखा...वो बड़ी ही बेफिक्री से बोला : "अगर इन दोनो को एक साथ तुम्हे 'खुश' करने में कोई प्राब्लम नही है तो बिल्कुल कर सकते हो...''

डिंपल तो पहले से ही राहुल से लिपटी खड़ी थी....राहुल ने जब मुड़कर काजल से पूछना चाहा तो वो खुद ही चलती हुई बीच में आ गयी और राहुल के दूसरी तरफ आकर वो भी उससे चिपक गयी...उसका टॉप अभी तक ऊपर उठा हुआ था, और उसके मम्मों पर सरदारजी के मुंह का गीलापन भी साफ़ चमक रहा था



अब उसकी झिझक दूर हो चुकी थी, इसलिए बीच में आने से पहले उसने पिछली बार की तरह अपने पति की आँखो में आँखे डालकर उनकी इजाज़त नही ली...वैसे भी इस वक़्त गुप्ता किसी भी बात की इजाज़त दे देता...उसे खुद इस खेल में इतना मज़ा आ रहा था...अगर उसकी बीबी उससे पूछती भी तो वो उसे मना नही करता..

लेकिन अब डबल मज़ा मिलने वाला था सभी को...और सबसे ज़्यादा तो राहुल को..

सबा जो अभी कुछ देर पहले खुद चिपचिपी बारिश में नहाकर अपनी सीट पर बैठी थी, अपने पति को बीच में देखकर वो भी खुश हो गयी...अब वो उसे देखकर मज़ा उठना चाहती थी...और ये भी देखना चाहती थी की उसका पति 2 औरतों को एक साथ कैसे संभालता है...



राहुल ने काफ़ी देर से डिंपल के शरीर को सहला-2 कर उसे उत्तेजित कर दिया था...और कहते है,सरदारनी की चूत जब गर्म होती है तो उसमें से ज्वालामुखी निकलता है.... डिंपल के साथ भी कुछ ऐसा ही हो रहा था.... उसकी चूत से टप -2 करके गर्म पानी बाहर निकल रहा था...जो उसके खुद के पैरों में गिरकर उन्हे झुलसा रहा था...

काजल भी अपनी जवानी की आग में झुलस रही थी... उसे जब से अपने कॉलेज का टाइम याद आने लगा था वो तो बावली सी हो चुकी थी...अब वो किसी भी कीमत पर सबके सामने अपनी शर्म हया छोड़कर, वही शादी से पहले वाली चुदाई की मूरत बन आना चाहती थी जिसे चुदाई के आगे कुछ भी दिखाई नही देता था...

राहुल ने काजल का अटका हुआ टॉप उपर करके निकाल दिया...और उसका बॉटम भी नीचे खिसका कर गिरा दिया....अब वो सिर्फ़ एक छोटी सी कच्छी में खड़ी थी...
Reply
01-18-2019, 01:55 PM,
#37
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
डिंपल को तो कहने का मौका ही नही दिया राहुल ने, वो खुद ही अपने कपड़े निकाल कर खड़ी हो गयी....और वो भी सारे के सारे... और अगले ही पल वो पूरी नंगी होकर राहुल और सभी सोसायटी वालों के सामने खड़ी थी...

सरदारजी ने उसकी गांड मार-मारकर इतनी फेला डाली थी की उसके उपर सभी के दारू के ग्लास सज सकते थे....उसकी इसी चौड़ी गांड की वजह से वो इतना मटक-2 कर और इतराकर चलती थी...



काजल और डिंपल ने एक दूसरे की तरफ देखा और मुस्कुराते हुए दोनो राहुल के करीब आई और एक-2 करके उसके कपड़े उतारने लगी ....

राहुल ने भी उनका साथ दिया और कुछ ही देर मे वो भी पूरा नंगा उनके सामने था...जिस राहुल के भोले से चेहरे को देखने के लिए सोसायटी की सभी औरतें तरसती रहती थी, वही आज सभी के सामने पूरा नंगा खड़ा था...

अब तीनों का मन तो यही कर रहा था की भाड़ में जाए ये रूल्स एन्ड रेगुलेशंस और चुदाई में कूद पड़ो, पर माहौल को वहां तक पहुँचने में शायद अभी थोड़ा और वक़्त था...इसलिए उन्होने आपस में इशारा करके अभी के हिसाब से ही मज़े लेने की सोची...

राहुल ने बड़ी ही बेताबी से डिंपल को अपनी तरफ खींचा और उसे ज़ोर से स्मूच कर लिया...



ऐसा करते हुए उसके हाथ अपने आप उसके पूरे शरीर पर घूमने लगे...ख़ासकर उसके मुम्मों और गांड पर...

काजल भी पीछे रहकर अपना मज़ा नही खोना चाहती थी...वो राहुल के पीछे से आकर उसकी पीठ से चिपक गयी और ऐसा करते ही राहुल को अपनी पीठ पर उसके मोटे और मुलायम मुम्मों का एहसास हुआ...वो भी तड़प उठा...और घूम कर अपना चेहरा उसने काजल की तरफ कर लिया...

डिंपल के साथ तो वो पहले भी मज़े ले चुका था, पर काजल के साथ उसका ये पहला मौका था...और उसके उपर राहुल की ना जाने कब से नज़र थी... इसलिए उसने डिंपल के साथ-2 काजल का नाम लिया था... राहुल उसकी बंगाली आँखों का खासतौर से दीवाना था, वो इतनी बड़ी-२ और सेक्सी थी की जैसे ही राहुल उसकी तरफ पलटा, सबसे पहले उसकी नजर उसकी सेक्सी आँखों पर ही गयी



काजल जैसी भरंवा औरत शायद ही पूरी कॉलोनी में कोई होगी...

हर जगह से भरी हुई थी वो....

वो मोटी नही थी , बस हर अंग उसका ज़रूरत से थोड़ा सा ज़्यादा फूला हुआ था... पर फिर भी उसने अपने शरीर को काफ़ी मैंटेन करके रखा हुआ था... शायद इसलिए राहुल की भूखी नज़रें उसपर शुरू से थी...

पर वो और उस कमरे में मोजूद कोई भी शख्स ये नही जानता था की उसकी इस फूट रही जवानी का असली कारण क्या है और इस वक़्त उसके मन में क्या चल रहा है....

पर जो भी था, जल्द ही सभी के सामने आने वाला था...

राहुल ने काजल के नाज़ुक से होंठों पर अपने होंठ रखे और उन्हे जोरों से चूसने लगा...राहुल के हाथ अब उसके मुम्मों को मसलने लगे...राहुल ने इतने मोटे और मुलायम मुम्मे आज से पहले कभी नही देखे थे...वो उसकी मक्खन जैसी त्वचा पर अपने कठोर पंजे लगाकर उनका मंथन करने लगा...

बीच-2 मे वो उसके गोल - मटोल निप्पल्स को भी मसल रहा था... और उनपर हाथ लगते ही कोमल के मुँह से एक अजीब सी सिसकारी निकल जाती थी.... राहुल समझ गया की वो उसका वीक पॉइंट है... इसलिए वो जान बूझकर अपना ज़्यादा ध्यान उनपर ही लगाकर उन्हे जोरों से चूसने लगा लगा...



राहुल के हाथ नीचे की तरफ सरके और उसने उसके कुल्हों को पकड़ कर ज़ोर से दबा दिया.

काजल ने अपनी चूत वाले हिस्से को आगे करते हुए उसके खड़े लंड से लगा दिया... उसने अभी तक पेंटी पहनी हुई थी इसलिए उसकी चूत और राहुल के लंड का मिलन नही हो सका....

राहुल ने आनन फानन मे उसकी पेंटी को दोनो तरफ से पकड़ा और बड़ी ही बेदर्दी से दोनो तरफ खींच कर उसे फाड़ डाला...उसे ऐसा करते देखकर दूर बैठा उसका बनिया पति मन ही मन बोला : 'साले, अब तू ही दिलवाइयो इसे नयी पेंटी '

काजल की पेंटी फटते ही उसकी चिकनी चूत सभी के सामने आ गयी.... अब वो अपनी नंगी चूत लिए सबके सामने बेपर्दा होकर खड़ी थी



ये पहला मौका था जब शादी के बाद काजल किसी और के सामने नंगी खड़ी थी.... कॉलेज टाइम में उसे अच्छी तरह से याद है की एक बार वो ग्रूप सेक्स करते हुए 3 लड़को के सामने नगी हुई थी... और उन तीनों ने उसकी पूरी रात जम कर बजाई थी....

आज की रात तो उससे भी ख़तरनाक और मजेदार होने वाली थी... इसलिए उसकी चूत से कुछ ज़्यादा ही चिपचिपापन निकल कर बाहर गिर रहा था...

राहुल ने एक बार फिर से उसकी चूत वाले हिस्से को पकड़ कर अपने लंड पर लगा लिया.... और इस बार दोनो नंगे थे, राहुल ने अपनी कमर को थोड़ा सा झुका कर अपने लॅंड को आगे किया और वो सीधा जाकर काजल की चूत से टकरा गया...

सब लोग बैठ कर उनका ये सेक्सी डांस देख रहे थे....

अजय की इस हरकत से सभी की साँसे रुक सी गयी.... सबा तो मंत्रमुगध सी होकर अपने पति को 2 औरतों से मज़ा करते देख रही थी...

और वहीं दूसरी तरफ गुप्ता जी भी अपनी बीबी को देखकर हैरान हुए जा रहे थे.... आज उनकी वाइफ बीच मैदान नंगी खड़ी होकर जिस तरह की हरकतें कर रही थी उससे सॉफ पता चल रहा था की उसके अंदर कितनी चुदासी भरी पड़ी है....
पर वो कुछ बोल ही नही सकते थे...
अभी कुछ देर पहले वो भी तो इसी तरह सबा के नंगे जिस्म के साथ खेलकर मज़े ले रहे थे....

इस ग़मे का तो रूल ही यही था...

दूसरों की बीबी से मज़े लो और अपनी बीबी के द्वारा दूसरे को मज़े दो...

राहुल ने जब अपनी कमर को आगे किया तो उसका लंड सीधा जाकर काजल की चूत पर जा लगा.... दोनो ने एक पल के लिए एक दूसरे को देखा और फिर एक जोरदार झटके से राहुल ने काजल को अपनी तरफ खींच लिया और उसे स्मूच कर लिया... और ऐसा करते ही काजल का निचला हिस्सा भी थोड़ा आगे की तरफ हुआ और अजय का लंड उसकी चूत में आकर फँस गया...

उसके मुँह से एक आनंदमयी सिसकारी निकल गयी...

''उहह............ उम्म्म्मममममममममममममममम...... राहुल.........''

राहुल ने अपने बॉस की तरफ देखा जो बड़े ही ध्यान से उन्हे ऐसा करते देख रहा था....

राहुल ने आँखो ही आँखो में शशांक से आगे बढ़ने की परमिशन माँगी पर उसने सिर हिला कर सॉफ मना कर दिया....

यानी अभी वो नही चाहता था की राहुल अपना लंड काजल की चूत में पेले.

बेचारे राहुल ने बेमन से अपना फँसा हुआ लंड वापिस बाहर निकाल लिया.....
Reply
01-18-2019, 01:56 PM,
#38
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
राहुल के पीछे सरदारनी भी पागल सी हुई जा रही थी.... 

वो अपनी जीभ से राहुल की पीठ, गर्दन और कानों को चाटने लगी...अपनी चूत से भी वो राहुल के चूतड़ों की मालिश कर रही थी.... अपनी चूत से निकल रहे देसी घी को वो राहुल के शरीर पर मल रही थी... कुल मिला कर वो पागल सी हो चुकी थी.... अब उस सरदारनी को संभालना थोड़ा मुश्किल सा लग रहा था...

काजल भी अपनी चूत से राहुल के लंड की वापिसी देखकर तिलमिला सी उठी.... पर राहुल ने आँखो के इशारे से उसे थोड़ा सब्र करने को कहा....
पर एक बार चूत को जब लंड की गंध आ जाए तो उससे सब्र कहा होता है...
वो भी डिंपल की तरह पागल सी होकर राहुल के सहरीर को चाटएने लगी...चूसने लगी...काटने लगी...

दोनो ने मिलकर राहुल को नीचे लिटा दिया.... नीचे मखमली गलीचा बिछा हुआ था... और तीनो के नंगे जिस्म एक दूसरे से गुथम गुथा होकर उसपर अपना जलवा बिखेर रहे थे...

ऐसा लग रहा था जैसे गलीचे पर 3 इच्छाधारी साँप अपने इंसानी रूप में आ गये है...
तीनो के जिस्म साँपों की तरह लहरा रहे थे...
एक दूसरे के अंगों से लिपट रहे थे...
एक दूसरे को दबा रहे थे...

कभी राहुल डिंपल के उपर होता और कभी काजल के...
कभी वो बीच में होता और दोनो उसे सेंडविच की तरह पीस कर अपने मुम्मों से उसके जिस्म की मालिश करती...
कभी डिंपल उसके लंड को चूसती तो कभी काजल....

एक मौका तो ऐसा आया जब काजल और डिंपल एक दूसरे के उपर जा चढ़ी ...
और दोनो ने ये मौका भी नही गँवाया....
एक दूसरे को ही स्मूच करना शुरू कर दिया....
ये देखकर एक कोने में खड़ी नीरू हदद से ज़्यादा उत्तेजित हो गयी और उसने पहली बार, बड़ी ही बेशर्मी से अपनी चूत को सभी के सामने मसलना शुरू कर दिया...

शशांक अब तक समझ चुका था की उसे काबू में कैसे करना है...

डिंपल के सर की तरफ से काजल रेंगती हुई आई और उसने सीधा आकर सरदारनी के मुम्मों को चूसना शुरू कर दिया, ये एक ऐसा एंगल था जिसमॅ काजल की ब्रेस्ट सरदारनी के होंठो के पास थी, उसने भी बिना कोई देरी किये बिना उन्हें मुंह में भर लिया और चूसने लगी




राहुल ने जब देखा की काजल और डिंपल एक दूसरे से लिपट कर चूमा चाटी कर रहे है तो उसने ये मौका गँवाना उचित नही समझा और वो खरगोश की तरह रेंगता हुआ उन दोनो के नीचे यानी टाँगो की तरफ आ गया ....

अब उसके सामने दोनो की चूत थी जो वो एक दूसरे से रगड़ रहीं थी...



वो किसी कुत्ते की तरह अपना मुँह लेकर उनके बीच घुस गया और अपनी जीभ से उन दोनो की चूत एक साथ चाटने लगा....

ये एक ऐसा नज़ारा था जिसके बारे में कोई अंदाज़ा भी नही लगा सकता था की कोई ऐसा भी कर सकता है...

पर उन सभी के अंदाज़े से आगे निकल कर राहुल ने वो कर दिखाया....

और ऐसा करते हुए जब उसकी नज़र अपनी बीबी सबा पर पड़ी तो वो भी ताली बजा कर उसकी तारीफ करने से खुद को ना रोक सकी और बोली : "नोट बेड राहुल.... नोट बेड .... कीप इट अप .... दिखा दो इन दोनों को की तुम क्या-2 कर सकते हो....''

बस फिर क्या था, सबा की इस तारीफ के पेड़ पर चड़कर राहुल ने अपनी जीभ को और पैना किया और डाल दिया सीधा सरदारनी की चूत में....

वो तो तड़प ही उठी, एक जीभ भी लंड का दम ख़म रखती है, ये उसे आज ही पता चला

राहुल ने फिर उस अकड़ी हुई जीभ से काजल की चूत को भी चोदा , दोनों राहुल के इस हमले से बचने के लिए एक दूसरे के जिस्मों को बुरी तरह से रगड़ने लगी, एक दूसरे को स्मूच करने लगी

कुल मिलाकर कमरे में आग सी लग चुकी थी

और उस आग को ठंडक तब मिली जब दोनों एक साथ झड़ने लगी

और झड़ते हुए उनके मुंह से जो आवाजें निकली उसे सुनकर सभी को ये डर बैठ गया की कहीं उनकी ये चीखें पड़ोसियों तक ना पहुँच जाए

'' आआआआ ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्। ........ ओह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह्ह् फक्क्क्क्क्क्क्क्क , स्सस्सस्सस्स। ......... म्म्म्म्म्म्म्म्म , मैं तो गयी। ...... ''

वो तो भला हो कॉलोनी के बच्चों का जिन्होंने ठीक उसी वक़्त दस हजार की लड़ी में आग लगायी थी , उस दिवाली के पटाखों की गूँज ने उन दोनों की चीखों को दबा दिया

दोनों काफी देर तक एक दूसरे को चूमती रहीं और राहुल नीचे लेटा हुआ उनकी मलाई चाटता रहा




अब राहुल की बारी थी 

दोनों ने राहुल को सोफे पर बिठा दिया

और खुद उसके सामने बैठकर उसके लंड को चूसने लगी



एक बार फिर से राहुल के लंड से उन दोनों ने खेलना शुरू कर दिया

कभी एक चूसती तो कभी दूसरी , कभी एक अपने मुम्मों के बीच उसका लंड दबाती तो कभी दूसरी

ऐसा करते-२ आखिर राहुल भी अपने ओर्गास्म के करीब पहुँच गया

उसके ओर्गास्म को देखकर दोनों एक बार फिर से नीचे लेट गयी और राहुल ने उन दोनों के पूरे शरीर को अपने माल से नहलाना शुरू कर दिया



उसका माल इतना ज्यादा निकला की उसने दोनों के शरीर की रंगत ही सफेदी में बदल दी, उसके बाद दोनों ने एक दूसरे के शरीर पर गिरी नारियल की मलाई चाट-चाटकर खायी

पूरा कमरा एक बार फिर से तालियों से गूँज उठा

तीनों ने सच में सराहनीय काम किया था

अब आखिरी नंबर शशांक का था

और उसने सोच रखा था की क्या करना है

क्योंकि इस गेम के बाद वो चुदाई का नंगा नाच देखना चाहता था,

जिसके लिए सभी लोग बेसब्री से इन्तजार कर रहे थे


शशांक अब बीच में कुछ और करके इस माहौल पर ब्रेक नही लगाना चाहता था.... इसलिए वो खड़ा हुआ और सीधा मुद्दे की बात की

वो बोला : "मैं चाहता हूँ की डिंपल और सबा एक दूसरे को सक्क करें ....''

दोनो की आँखे चमक उठी... वैसे भी सबा काफ़ी देर से कुछ करने को कुलबुला रही थी...

वो तुरंत खड़ी हुई और बड़ी मासूमियत से बोली : "बस... सक्क ही करना है.... आप अपनी बारी में सिर्फ़ इतना ही करवाओगे...''

वो शायद सोच रही थी की अब शायद चुदाई स्टार्ट हो जाए...

शशांक ने मुस्कुराते हुए कहा : "नही.... तुम ये शुरू तो करो, मैं बाकियों के लिए बताता हूँ की क्या करना है...''

सबने अपना सिर हिला कर सहमति जताई...

वैसे भी राहुल जब 2 से मज़े ले सकता है तो शशांक तो ना जाने क्या -2 कर सकता है...

सुमन तब तक सबा के करीब पहुँच चुकी थी और उसने सबा को ज़मीन पर लिटा दिया...

मखमली गलीचे पर बिछकर सबा एक बार फिर से सबके सामने नंगी पड़ी थी.



सुमन उसकी टाँगो की तरफ आई और उसकी जांघे फेला कर बीच में मोरनी बनकर उसकी चूत पर झुक गयी.... ऐसा लग रहा था जैसे पानी में दो नॉकाएँ एक दूसरे से टकरा कर रुक गयी है.... दोनो के कटाव भरे जिस्म सभी की आँखो में चमक पैदा कर रहे थे...

सुमन जिस अंदाज में अपनी टांगे मोड़कर बैठी थी, उसकी चिकनी चूत और फेली हुई गांड पीछे बैठे कपूर साहब की आँखो के ठीक सामने थी

उसकी गांड को देखकर, अपना लण्ड मसल रहे कपूर की आँखो में वासना के डोरे तैर गये

वो और तेज़ी से अपने लंड को मसलने लगे...

अभी सुमन ने सबा को सक्क करना शुरू नही किया था, क्योंकि वो जानती थी की उसके पति का प्लान क्या है.वो बस सबा की जांघों को धीरे-2 सहलाती रही

शशांक एक बार फिर से बोला : "और साथ ही साथ , मैं चाहता हूँ की नीरू भाभी भी इसी तरह से काजल भाभी को सक्क करे...''

ये एक ऐसा मौका था जब पूरे कमरे में सन्नाटा छा गया...

सभी की नज़रें नीरू पर जा टिकी..

अब तक इस कमरे में मौजूद हर लेडी ने शशांक के खेल के अनुसार अपने आप को ढाल कर उनका साथ दिया था... खुद भी मज़े लिए थे और दूसरों को भी दिए थे...सिर्फ़ नीरू को छोड़कर.

सभी को लग रहा था की नीरू शायद इस बार भी पहले की तरह मना कर देगी...

और शायद वो कर भी देती अगर उसने पिछले कुछ समय में वो सब ना देखा होता जो वो देख रही थी....

यानी एक औरत का दूसरी औरत को प्यार करना..और शशांक ने इसी बात का फ़ायदा उठाया था , उसे पता चल चुका था की यही एक तरीका है जिसे इस्तेमाल करके वो नीरू को चुदाई के इस खेल में शामिल कर सकता है

जी हाँ , वो एक लेस्बियन थी... शुरू से ही.... स्कूल टाइम में वो अपनी सबसे पक्की सहेली पिंकी के साथ इस तरह के मज़े लिया करती थी...बाद में वो मज़े एक दूसरे की चूतों की चुसाई तक पहुँच गये...वो दोनो सहेलियाँ घंटों तक बिस्तर पर नंगी होकर एक दूसरे की अविकसित चुचियों को चुस्ती और बिना रोँये वाली चूत के अंदर अपनी-2 जीभ घुसा कर अंदर का गर्म पानी पिया करती...
Reply
01-18-2019, 01:56 PM,
#39
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
उन दिनों जैसा मज़ा तो नीरू को शादी के बाद असली चुदाई में भी नही मिला था...

और आज उसने जब से इस तरह के खेल दोबारा देखे तो उसके जहन में वो सब फिर से ताज़ा हो गया....

उसे अपनी सहेली पिंकी की वो पिंक कलर की चूत एक बार फिर से याद आ गयी....

शशांक ने जब उसका और काजल का नाम लिया तो उसकी चूत पूरी तरह से झनझना उठी....

अब तक जो एक पतिव्रता होने का नाटक वो करती आ रही थी, उसका तो उसे ख़याल ही नही रहा जब काजल ने आगे बड़कर उसके हाथ को पकड़ा और अपनी गर्म साँसे उसके कान में छोड़ते हुए कहा : "चलो ना नीरू भाभी.... मज़ा आएगा...''

उसे एक पल के लिए ऐसा लगा मानो उसकी पिंकी वापिस लौट आई है

और वो जिस मज़े की बात कर रही थी,ऐसे मज़े तो उसने बचपन में लेकर छोड़ दिए थे....

उन दिनों भी वो अपनी सहेली की चूत को चूसते हुए ज़ोर-2 से आवाज़ें निकाला करती थी.... उसकी चूत पर काट लिया करती थी... उसके स्तनों पर लाल निशान बनाया करती थी.... शशांक ने आज ये सब करने का अवसर देकर उसके अंदर की सोई हुई शेरनी को एक बार फिर से जगा दिया था.... वो बिना किसी विरोध के काजल के साथ आगे चल दी...

शशांक के चेहरे पर विजयी मुस्कान थी.....आख़िरकार नीरू भी उनके इस खेल में कूद ही पड़ी थी....

काजल तो पहले से ही नंगी थी..... उसने अपना हाथ उपर करके नीरू की साड़ी का पल्लू नीचे गिरा दिया... और घुमा कर उसकी साड़ी निकाल दी... फिर उसने उसका ब्लाउज़ और पेटीकोट भी खोल दिया...और अंत में उसकी ब्रा और पेंटी भी उतार दी...

उसके बाद जो नग्न शरीर सबके सामने आया, उसकी चमक और दमक देखकर सभी की आँखे चुंधिया गयी....

जिस जिस्म को आज तक सिर्फ़ उसके पति ने देखा था (और शादी से पहले उसकी सहेली पिंकी ने), वो आज सबके सामने नंगा था....



नीरू अपने कपड़े उतरवाते हुए ज़रा भी नही शरमाई.... 

उसे अपने स्कूल टाइम का वो वक़्त याद आ गया जब उसकी सहेली भी इसी तरह उसके कपड़े उतार कर उसे नंगा कर दिया करती थी.... वो सब सोचकर उसकी चूत में अजीब सी गंध बाहर निकलने लगी....

आज से पहले उस गंध को कपूर साहब ने जब भी सूँघा था वो समझ जाते थे की उसपर कितनी चुदासी चढ़ी है.... अब तो वो काजल का क्या हाल करेगी ये उपर वाला ही जानता था.

वो नीचे लेटने लगी तो शशांक ने उन्हे रोक दिया और कहा : "एक काम करो,अंदर चलते है.... बेडरूम में ... वहां आराम से लेटकर हो सकता है...''

उसने ये बात इसलिए भी कही थी की उसे अच्छी तरह से पता था की इसके बाद सिर्फ़ और सिर्फ़ चुदाई ही होनी है...

और चुदाई के लिए बेडरूम से अच्छी जगह कोई और हो ही नही सकती.... और वैसे भी,उसका बेडरूम काफ़ी बड़ा था.... किंग साइज़ बेड था उसके रूम में ... जिसपर आसानी से 3-4 जोड़ियाँ चुदाई कर सकती थी....

सभी ने उसकी बात मान ली और उठकर बेडरूम की तरफ चल दिए...

अंदर जाते हुए शशांक और सुमन के चेहरे पर विजयी मुस्कान थी...आज उनका सपना साकार होने जा रहा था... जिस काम के लिए वो पिछले 2 सालो से लगे हुए थे वो आज होने वाला था...या ये कहलो की लगभग हो ही चुका था.... आज के बाद एक दूसरे की बिबीयों और पतियों के बीच जो चुदाई का खेल शुरू होने वाला था,वो आने वाले कई सालों तक चलने वाला था.

सभी बेडरूम में आ गये....सुमन ने आज अपने बेडरूम को काफ़ी अच्छे तरीके से सजाया हुआ था....हल्की रोशनी थी रूम में ...अंदर आते ही सबा एक बार फिर से बेड पर लेट गयी....और उसकी बगल में नीरू भी....और उन दोनो की जांघों के बीच आकर लेट गयी सुमन और काजल...

और लेटने के साथ ही नीरू ने किसी का वेट नही किया और सीधा अपनी जीभ उसने काजल की चूत पर लगा दी..

ऐसा लगा जैसे कड़ाही में तड़का लग गया है ... ऐसी सनसनाती हुई सी आवाज़ निकली काजल के मुँह से जैसे वो मर ही जाएगी...

''आआआआआआआआआयययययययीीई ....... सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स आआआआआआआआआहह ओह नीरू भाभी ....................... थोड़ा धीरे........आआआआआआआआआआआहह''

पर अब नीरू कहाँ मानने वाली थी...

उसके सामने पनीर के टुकड़े जैसी फूली हुई चूत थी,जिसे वो अपने पैने दांतो से कुतर -2 कर खाने लगी.... उसका रस पीने लगी .......

सुमन ने भी अपना काम शुरू कर दिया और सीधा सबा की नर्म और मुलायम चूत पर टूट पड़ी और सबा भी ठीक उसी तरीके से चीखने चिल्लाने लगी जैसे काजल कर रही थी.... आख़िर चूत पर होने वाली गुदगुदी को बर्दाश्त करना आसान काम नहीं होता..

देखने वालों की हालत भी खराब थी, एक ही बेड पर चार सैक्स की देवियां नंगी होकर एक दूसरे को चूस रही थी



सबा और काजल काफी देर से अपनी चूत के बाँध को कंट्रोल किए हुए थी....इसलिए उन्हे झड़ने में ज़्यादा टाइम नही लगा....वो दोनो भरभराकर एक साथ झड़ने लगी .... सुमन और नीरू ने अपनी बिल्ली जैसी जीभ से उनकी चूत से निकल रहा दूध सॉफ करके चाटना शुरू कर दिया....ऐसा करते हुए दोनो की गांड इधर उधर हवा में थिरक रही थी....जैसे उन्हे किसी के लंड का इंतजार हो...

कपूर साहब की नज़रें अभी तक सुमन की उभरी हुई गांड पर थी..... हालाँकि उसके बिल्कुल करीब ही उनकी बीबी नीरू भी अपनी गांड उचकाए वही सब कर रही थी पर उसपर उनका ध्यान नही था...

और जिसका ध्यान था वो था राहुल.

राहुल जो पहले तो नीरू की जवानी को देखकर हक्का बक्का रह गया था, ठीक वैसे ही नीरू के नंगे जिस्म को देखकर उससे सब्र नही हो रहा था....

लंड मसलता हुआ वो थोड़ा आगे की तरफ आ गया और ठीक बेड के किनारे पर पहुँच गया जहाँ नीरू उकड़ू होकर काजल की चूत चूस रही थी...और एक हाथ से अपना लंड रगड़ते हुए उसने नीरू की फेली हुई गांड पर हाथ रख दिया...

जो वो तब से रखना चाहता था जब से उसने उसकी फेली हुई गांड देखी थी.

नीरू एकदम से सहम सी गयी.....उसने तुरंत अपना चेहरा काजल की चूत से निकाला और पीछे मुड़कर देखा....सामने राहुल खड़ा था.... अपना लंड हाथ में लेकर...

और उसके ठीक पीछे उसके पति कपूर साहब भी थे, वो भी लगभग नंगे ही थे, और वो भी अपना लंड रगड़ रहे थे...पर उनकी नज़रें सुमन पर थी....

नीरू समझ गयी की अब और नाटक करना बेकार है,वरना ऐसे और मज़े से वो हाथ धो बैठेगी..

उसने मुस्कुराते हुए राहुल की तरफ देखा और उसकी तरफ घूम कर उसके गले से लिपट गयी...और अगले ही पल राहुल ने उसके चेहरे को आगे करके उसे जोरों से स्मूच करना शुरू कर दिया.

राहुल के मुँह में काजल की चूत का स्वाद आया....जिसका पानी नीरू के चेहरे और होंठों पर लगा हुआ था.... एक ही औरत में दूसरा फ्लेवर मिलता देखकर राहुल और भी ज़्यादा उत्तेजित हो उठा और उसने वो सारा का सारा माल उसके होंठों और चेहरे से चाट-चाटकार सॉफ कर डाला...

कपूर साहब भी आगे बड़े और उन्होने अपना वो हिनहिनाता हुआ लंड सुमन की गांड पर रगड़ना शुरू कर दिया... तब तक सुमन भी सबा की कटोरी का सारा मक्खन सॉफ कर चुकी थी.... अपनी गांड पर एक लंड की दस्तक मिलते देखकर सुमन ने कपूर को देखा और मुस्कुरा दी.... और मुस्कुराते हुए ही उसने अपने पति शशांक की तरफ देखा...

वो मौका आ चूका था जिसका सबको बेसब्री से इन्तजार था , बस शशांक की फॉर्मल हाँ का इन्तजार था

पर उससे पहले शशांक शायद कुछ बोलना चाहता था...

वो अपनी सीट से उठा और बोला : "दोस्तों..... आपने जिस अंदाज से दीवाली का जुआ खेला है वो सच में सराहनिय है.... और उस जुए के बीच ये जो खेल हम सभी ने खेलना शुरू किया है,आशा करता हूँ की उसे भी आप उतना ही एंजाय कर रहे है जितना आपने जुए को किया था.... और आप सभी को आपसी सहमति से एक दूसरे का साथ देते देखकर मुझे बहुत खुशी हो रही है... और मुझे आशा है की हम आज के बाद एक दूसरे के पार्ट्नर्स को आपस में शेयर करना शुरू कर देंगे...जिससे किसी को कोई आपत्ति नही होगी.... ऐसा करके हम अपनी सैक्स लाइफ को और रोमांचक बना रहे है... जिसे आप सब एंजाय करोगे... ये मेरा दावा है , और मेरा आपसे ये वादा है की जो भी इस चार दीवारी के बीच होगा, वो सब हमारे बीच ही रहेगा... और आपसे भी मैं यही आशा रखता हूँ , ताकि हम इसी तरह आगे भी,बिना रोक-टोक के, ऐसे और भी गेट टुगेदर करते रहे ... सो एंजाय एवेरिवन .... इट्स ओपन फॉर ऑल''

उसके इस भाषण ने रही सही झिझक भी ख़त्म कर दी.... और सभी ने एक बार फिर से तालियाँ बजाकर उसका साथ देने की पुष्टि की....

और कुछ ही देर में उस हमाम में सभी नंगे थे.....

अब सभी ने अपनी-2 पसंद की जोड़ी बनानी शुरू कर दी...
Reply

01-18-2019, 01:56 PM,
#40
RE: Desi Sex Kahani एक नंबर के ठरकी
कपूर तो पहले से ही सुमन की गांड पर थपकीयाँ मारकर उसे चुदाई के लिए तैयार कर चुका था....

राहुल भी नीरू को चूमते-2 दूसरी तरफ ले गया और कोने में पड़े एक सोफे पर बैठकर दोनो एक दूसरे को बुरी तरह से नोचने खसोटने लगे...

सरदारजी ने एक बार फिर से काजल को अपनी गिरफ़्त में लिया और उसे नीचे बिठा कर अपना मोटा लंड उसके मुँह में उतार दिया...




गुप्ता जी के काले लंड पर काफ़ी देर से डिंपल सरदारनी की नज़र थी, वो धीरे-2 चलती हुई उनके करीब आई और उन्हे बिस्तर पर लिटाकर उनकी टाँगो के बीच खड़े उनके घीस जैसे लंड पर टूट पड़ी...

और बाकी बचा शशांक.... जिसने ये सारी महा गाथा लिखी थी... और जिसे दिमाग़ में रखकर लिखी थी, वो उसके सामने नंगी पड़ी थी...

यानी सबा...

जो अपनी चूत सुमन से चुसवाने के बाद गहरी साँसे लेकर आस पास हो रही हलचल पर नज़र रख रही थी...और अचानक वो उछल सी पड़ी...शशांक ने उसकी चूत पर हमला बोल दिया था.... जिस चूत को उसकी बीबी सुमन कुछ देर पहले तक चूस रही थी, उसे अब उसका पति शशांक चूस रहा था...



ऐसा एहसास मिलते ही सबा ने एक बार फिर से आनद से भरी सिसकारी मारकर अपनी आँखे बंद कर ली...

कुछ देर तक उसकी चूत चूसने के बाद शशांक उठ खड़ा हुआ और अपने लंड पर थूक मलकर उसने उसे हमले के लिए तैयार कर लिया...

शशांक तो शुरू से ही उसकी गांड का दीवाना था....

उसने अपना लंड सीधा उसकी गांड के छेद पर टीकाया और धीरे-2 करके उसे अंदर खिसका दिया...

सबा बेचारी ने 2 दिन पहले ही गांड मरवा कर अपना छेद खुलवाया था, शशांक के मोटे लंड के लिए वो बिल्कुल भी तैयार नही थी....

''आआआआआआआआहह ..... मररर्र्र्र्र्र्र्र्र्र्र्ररर गाइिईईईईईईईईईईईईईईईईईई......... ''

पर कुछ देर तक अपना लंड उसकी गांड में हिलाने के बाद उसे थोड़ा आराम मिला.....और फिर धीरे-2 मज़ा भी मिलने लगा....जो दर्द से भरी सिसकारी थी वो कब मज़े में बदल गयी, उसे भी पता नही चला...



और ऐसी सिसकारियाँ और हू हा की आवाज़ें कुछ ही देर पूरे कमरे से आने लगी...

कपूर साहब ने अपना लंड सुमन की चूत में डाल कर उसे पेलना शुरू कर दिया था.... और ज़ोर से से उसकी चूत मारते हुए, उसके हिलते हुए मुममे देखकते हुए, वो अपने ऑर्गॅज़म के करीब पहुँचने लगे...

सरदारजी ने भी अपना लंड चुसवाने के बाद काजल को पटक कर बेड पर उल्टा कर दिया, और उसे घोड़ी बना कर अपना हाथी जैसा लंड उसकी चूत में डाल दिया...

और वो सच में किसी घोड़ी की तरह ही हिनहीना उठी, और अपने आगे वाले दोनो हाथों को उपर करके उसने सरदारजी की गर्दन पकड़ ली....

''उम्म्म्मममममममममममम...... ओह सरदारजी ....... आपके लंड में तो सच में बहुत ताक़त है..... ''

ये बात उसके पति गुप्ता जी ने भी सुनी.... पर उन्हे इस बात पर गुस्सा नही आया की उनकी पत्नी उनके सामने किसी और से चुदाई करवाते हुए इस तरह की बाते कर रही है... बल्कि खुशी हुई की वो अपनी अंधेरे वाली लाइफ से बाहर निकल आई है.... अब वो खुद भी मज़े लेंगे और वो भी मज़े लेगी जैसा वो इस वक़्त ले रही थी...

मज़े की बात ये थी की गुप्ता जी की बीबी को इस वक़्त सरदारजी चोद रहे थे और सरदारजी की बीबी डिंपल इस वक़्त उनके लंड को चूस कर चुदाई के लिए तैयार कर रही थी...गुप्ता जी का काला लंड भी इस वक़्त चुदाई के लिए बिल्कुल तैयार था....

वो बेड पर लेट गये और उन्होने इशारा करके डिंपल को उपर आने को कहा..... वो मटकती हुई सी बेड पर चढ़ गयी और ठीक गुप्ता जी के लंड के उपर अपनी चूत लगाकर नीचे बैठती चली गयी...

''उम्म्म्मममममममममममममममममममम ....... सस्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्स्सस्स....... आपके इसी लंड को लेने के लिए ना जाने कब से तड़प रही थी.....''

गुप्ता जी भी उसकी बात नही समझ पाए..... ऐसा पहला मौका था जब कोई रसीली औरत उनके लंड को लेने की तड़प बयान कर रही थी.... इस बात को सुनकर उनका जोश दुगना हो गया और उन्होने सरदारनी की पतली कमर को पकड़ कर नीचे से अपना रॉकेट उसकी चूत में ज़ोर-2 से घुसाने लगे....



झटके इतने तेज थे की डिंपल के मुम्मे उछल कर उसके ही चेहरे से टकरा रहे थे... गुप्ता जी ने उसके मांसल कुल्हों को पकड़ कर ज़ोर से दबाना शुरू कर दिया...डिंपल थोड़ा आगे झुकी तो उसके निप्पल्स को मुँह में लेकर उसका दूध भी पीना शुरू कर दिया.... अपनी चूत और छातियों पर दोहरा हमला वो बर्दाश्त ना कर सकी और उनके मोटे और काले लंड के उपर अपना रज न्योछावर करके भरभराकर झड़ने लगी...

''आआआआआआआआआहह उईईईईईईईईईईईईईई माआआआआआआ मैं तो गयी ........ अहह.....''

पर गुप्ता जी मे अभी बहुत जान बची थी..... उन्होने उसे बेड पर चित लिटा दिया और उसकी टांगे मोड़ कर उसकी चूत में अपना लंड एक बार फिर से पेल दिया.... अपना चेहरा उन्होने उसकी गर्दन में घुसा दिया और दे दना दन झटके मारकर पूरे पलंग को हिलाने लगे...... और तब तक हिलाते रहे जब तक उनके लंड ने हिलना बंद नही किया....




वो भी अंत में आकर जब झडे तो उन्होने पूरा घर सिर पर उठा लिया...

''आआआआआआआआआआआआहह मेरी ज़ाआाआआआअन्न ....... साआआाआली रंडी ....... ये ले मेरा माआआाालल्ल्ल ..... अपनी चूत में साआआआाआली .... तेरी माँ को चोदूँ .... भेंन की लौड़ी ...... अहह ..... ये ले ...... ''

और उसे और उसके पूरे खानदान की माँ बहन एक करने के बाद वो एक तरफ लुडक कर गहरी साँसे लेने लगे...

सरदारजी ने भी काजल की चूत का बाजा अच्छी तरह से बजाया..... उसे बेड पर लिटा कर लंड भी पेला और अपने बड़े-2 हाथों से उसकी छातियां भी बुरी तरह से दबाई....



और अंत में जब दोनो एक साथ झड़ने लगे तो उन्होने अपनी उंगली उसकी गांड के छेद में डालकर उसके ऑर्गॅज़म को एक नयी उँचाई पर पहुँचा दिया.... और दोनो पहली बार चुदाई कर रहे प्रेमियों की तरह एक दूसरे के शरीर को रगड़ते हुए झड़ने लगे....

''आआआआआआआआआहह ओह गुरपाााआाअल्ल्ल ...... मैं तो गयी ......''

सरदरजी ने भी काजल को घुमा कर अपनी तरफ कर लिया और उसके फूल की पंखुड़ी जैसे होंठों को चबाता हुआ बोला : " आआआआआआआआअहह मेरी ज़ाआाआआनन्न .... मज़ा आ गया....... आज तो तेरी गांड भी मारूँगा...... तू देखती जा बस....''

और सरदारजी का लण्ड काजल की चूत से बाहर निकल आया, और साथ ही निकला ढेर सारा माल भी



अपन गांड मरवाने के ख़याल से ही वो एक बार फिर से सिहर उठी......... और दोनो एक दूसरे को गहरी स्मूचें करते हुए एक दूसरे से लिपट कर लेटे रहे...

राहुल के लंड को अंदर लेने के बाद नीरू तो जैसे पागल कुतिया जैसी हो चुकी थी..... वो राहुल को नोच रही थी.... उसे काट रही थी..... अपनी छातियों पर उसके चेहरे पर जोरों से दबा रही थी.... और हर तरह से उसे खुश करने का प्रयत्न कर रही थी..... आज जैसी गर्मी उसे बहुत सालों के बाद चढ़ी थी.... और उसका वो जी भरकर मज़ा लेना चाहती थी.... उसे अब समझ आ रहा था की इस तरहा से खुल कर सैक्स करने में कितना मज़ा है..

राहुल से भी उसकी चूत की गर्मी ज़्यादा देर तक बर्दाश्त नही हुई और वो जल्द ही झड़ने के करीब पहुँच गया...काजल ने नीरू के बूब्स को चूसकर उसे ओर्गास्म के और करीब पहुंचा दिया, चूत में अगर लंड हो और मुम्मे पर किसी के होंठ तो ओर्गास्म आने में जरा भी वक़्त नहीं लगता



नीरू तो पिछले आधे घंटे में ना जाने कितनी बार झड़ चुकी थी.... राहुल के साथ एक बार और झड़ते हुए वो उसे पागलों की तरह चूमने लगी.....और चिल्लाते हुए अपनी चूत का रस उसने राहुल के लंड से निकले वीर्य में मिला दिया..

''आआआआआआआआआआहह ओह माय गॉड ........ कितना मज़ा है ये सब करने में ....... अहह ...... मजाअ आ गया ...................... उम्म्म्मममममममम....''

उसने थेंक्स कहते हुए शशांक की तरफ देखा, जिसके कारण उसे ये मज़ा मिला था.... शशांक तो मस्ती में डूबकर सबा की गांड मारने में लगा हुआ था.... अपने मोटे लंड को उसने किसी कुत्ते की तरह उस कुतिया बनी सबा की गांड के छेद में फँसा रखा था और एक ही साँस में करीब 4-5 झटके मारकर उसकी हालत खराब करने में लगा हुआ था....

और सबा भी अपनी गांड मरवाई के पूरे मज़े ले रही थी ...

''उम्म्म्म्म्म आआआआआआहह ओह शशांक ...... सर. ...... उम्म्म्मममममम ...यसस्स्स्स्स्स्स्स्सस्स..... अहह .... दर्द भी है ...... अहह और ...... अहह मजा भी ....... ओह ....यूउूउ आअर द बेस्ट ....... ईसस्सस्स...... फककक माय एसस्स्स ......... मारो मेरी गांड ...... और ज़ोर से .....



अंत में शशांक को ही हार माननी पड़ी,

उसकी गांड के छेद का छल्ला था ही इतना टाइट की उसने शशांक के खड़े लंड को आख़िरकार ढेर कर ही दिया..... और उसके लंड का सारा पानी एक मिनट के अंदर ही सबा की गांड के अंदर ट्रान्स्फर हो गया.....

उसके बाद वो भी एक दूसरे से लिपट कर कूची पूची करने लगे....

पूरे कमरे में चूत और लंड से निकले पानी की महक थी..... सभी खुश थे......

और ये सिलसिला उसके बाद भी चलता रहा.... कभी राहुल के घर तो कभी सरदारजी के घर.... कभी कपूर साहब के तो कभी गुप्ता जी के...... और कभी -२ तो वो सब मिलकर किसी रिसोर्ट में भी जाते, और हर बार वो अपना पार्ट्नर बदलना नही भूलते थे....

दीवाली के जुए से शुरू हुए इस सिलसिले ने सभी की जिंदगी बदल दी थी. अब उनकी जिंदगी को एक नया रंग मिल चुका था.... जिन लोगों को अपनी पत्नी बोर लगती थी, अब उसी की वजह से वो दूसरी औरतों की चूत और गांड मार पा रहे थे.... और ये बदलाव सभी को पसंद आ रहा था..



*******
समाप्त
*******

दोस्तों ये कहानी यहीं समाप्त ....आशा करती हूँ की आपको ये पसंद आई होगी...
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Heart Chuto ka Samundar - चूतो का समुंदर sexstories 671 4,862,009 05-14-2022, 08:54 AM
Last Post: Mohit shen
Star Antarvasna Sex Story - जादुई लकड़ी desiaks 61 96,481 05-10-2022, 03:48 AM
Last Post: Yuvraj
Thumbs Up bahan ki chudai भाई बहन की करतूतें sexstories 22 382,534 05-08-2022, 01:28 AM
Last Post: soumya
Thumbs Up Porn Story गुरुजी के आश्रम में रश्मि के जलवे sexstories 150 1,397,453 05-07-2022, 09:47 PM
Last Post: aamirhydkhan
Star XXX Kahani मेरा सुहाना सफर-कुछ पुरानी यादें desiaks 339 349,792 04-30-2022, 01:10 AM
Last Post: soumya
Star XXX Kahani छाया - अनचाहे रिश्तों में पनपती कामुकता desiaks 54 160,316 04-11-2022, 02:23 PM
Last Post: desiaks
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 40 176,020 04-09-2022, 05:53 PM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Desi Porn Stories आवारा सांड़ desiaks 248 2,014,305 04-05-2022, 01:17 PM
Last Post: Nil123
Star Free Sex Kahani परिवर्तन ( बदलाव) desiaks 30 158,629 03-21-2022, 12:54 PM
Last Post: Pyasa Lund
  Chudai Story हरामी पड़ोसी sexstories 30 244,167 03-20-2022, 12:55 AM
Last Post: Samar28



Users browsing this thread: 18 Guest(s)