Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
08-16-2023, 08:25 PM,
#91
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र

चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -18

मिली की सहायिका सपना की ख़ूबसूरती


आपने "मेरे अंतरंग हमसफ़र चतुर्थ अध्याय भाग 17 में पढ़ा

इन कामुक बातों से दोनों उत्तेजित होने लगी और उनकी सांसे तेज चलने लगी। लिली उत्तेजनावश अपना एक हाथ मिली की चूची पर लेजाकर उसे दबाने लगी और अपनी एक उंगली से उसके चूचूकों को रगड़ने लगी। जिससे मिली ओर उत्तेजित और हो गयी और अचानक फुर्ती से मेरे से अलग हो लिली को अपनी ओर खींच कर उससे चिपक गयी और लिली को गले लगा कर अपने स्तन से उसके स्तन को रगड़ने लगी। फिर दोनों एक दूसरे से आलिंगनबद्ध हो गयी ।

लिली थोड़ा घूमी और फिर मिली को बीच में ले आयी और मैं बोला चलो लड़कियो मिली को चूमो। हुमा, एमी, रोजी, सपना, शबनम, डेजी और लिली एक साथ मिली की और लपकी और उसे घेर कर चूमने लगी। सभी सात लड़कियों ने मिली के चेहरे पर चुंबनों की बारिश कर दी । फिर जिसको मिली के बदन में जहाँ जगह मिली वहाँ चुंबन करने लगी। और फिर मैं भी इस समूह में शामिल हो गया औऱ उसके ओंठो को चुंबन करने लगा औऱ इस उत्साहित और उत्तेजित लड़कियों से मिली को बचाने के लिए उसे अपने पास खींच लिया और नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया। जबकि मेरे हाथ उस समय उसके शानदार स्तनो को दबा रहे थे। फिर भी सभी लड़किया हमारे पास आ गयी और मिली तो जहाँ तहाँ चूमने लगी।

आपने मेरी कहानी " "मेरे अंतरंग हमसफ़र " में अब तक पढ़ा:

मैं अपनी पत्नी प्रीती को अपनी अभी तक की अंतरंग हमसफर लड़कियों के साथ मैंने कैसे और कब सम्भोग किया। ये कहानी सुनाते हुए बता रहा था की, किस तरह मेरी फूफरी बहन की पक्की सहेली हुमा की पहली चुदाई जो की मेरे फूफेरे भाई टॉम के साथ होने वाली थी। टॉम को बुखार होने के बाद मेरे साथ तय हो गयी। फिर सब फूफेरे भाई, बहनो और हुमा की बहन रुखसाना तथा मेरी पुरानी चुदाई की साथिनों रूबी, मोना और टीना की मेरी और हुमा की पहली चुदाई को देखने की इच्छा पूरी करने के लिए सब लोग गुप्त तहखाने में बने हाल में ले जाए गए। मैं दुल्हन बनी खूबसूरत और कोमल मखमली जिस्म और संकरी चूत वाली हुमा ने अपना कौमर्य मुझे समर्पित कर दिया उसके बाद मैंने उसे सारी रात चोदा और यह मेरे द्वारा की गई सबसे आनंदभरी चुदाई थी। उसके बाद सब लोग घूमने मथुरा आगरा, भरतपुर और जयपुर चले गए और घर में एक हफ्ते के लिए केवल मैं, हुमा और रोज़ी रह गए। जाते हुए रुखसाना बोली दोनों भरपूर मजे करना। उसके बाद मैं और हुमा एक दूसर के ऊपर भूखे शेरो की तरह टूट पड़े और हुमा को मैंने पहले चोदा और फिर उसके बाद बहुत देर तक चूमते रहे।

उसके बाद मैं फूफा जी के कुछ जरूरी कागज़ लेकर श्रीमती लिली से मिलने गया पर इस कारण से हुमा नाराज हो कर चली गयी । लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था। उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा, और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। मैंने लिली की जांघो और उसकी टांगो को चूमा और सहलाया फिर उसकी योनि के ओंठो को चूमा, चूसा और फिर मेरी जीभ ने उसके महीन कड़े भगशेफ की खोज की, मैंने उसे परमानंद में चूसा, और उसने मेरा मुँह अपने चुतरस से भर दिया।

लिली ने लंड को पकड़ लंडमुड से भगनासा को दबाया और योनि के ओंठो पर रगड़ा और अपनी जांघो की फैलाते हुए योनि के प्रवेश द्वार पर लंड को लगाया और उसने अपने नितंबों को असाधारण तेज़ी और ऊर्जा के साथ ऊपर फेंक दिया। मेरा कठोर खड़ा हुआ लंड लिली की टाइट और कुंवारी चूत के छेद में घुस गया और मैंने लिली को आसन बदल कर भी चोदा। मैं पास के कमरे में गया वहां हुमा थीं। हम दोनों एक दूसरे की बांहो जकड़ कर जन्नत के आनंद का मज़ा लिए और मैंने ढेर सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ा।

कुछ देर बाद पर्दा हटा कर मैंने लिली के कक्ष में झाँका और मैंने वहाँ बिस्तर पर गहरी नींद में सोई हुई प्यारी परम् सुंदरी लिली को देखा। मैं अपने उत्तेजित और झटकेदार उपकरण के सिर और बिंदु को उसके निचले आधे हिस्से के बिल्कुल सामने ले आया और फिर मैंने एक झटके में ही लंड मुंड को अंदर कर दिया! मेरा लंड एक बार फिर झड़ने के बाद कठोर ही रहा और उसे देख लिली थोड़ा आश्चर्यचकित हुई और मैंने उसने अपने ऊपर आने के लिए उत्साहित किया। हुमा भी घण्टे की आवाज़ से जग गयी थी और मुझे ढूँढते हुए लिली के कमरे में पता नहीं कब आ गयी थी लिली की चुदाई देखने के बाद हुमा भी मेरे साथ चिपक गयी। फिर मैंने हुमा और लिली की रात भर चुदाई की। अगले दिन लिली बोली अब तुम्हे मेरी दोनों बहने भी चाहती हैं और तुम्हे उन्हें भी चोदना होगा। दीपक मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरी बहनें मिली सबसे बेहतरीन महिला हैं और एमी बहुत कमसिन है। मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रखते हुए उत्तर दिया मैं अपने आप को पूरी तरह से आपको समर्पित करता हूँ और आपकी सेवा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा और हमने उसकी कार से हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान किया।'

कार में मैं मिली की बगल में बैठा उसे निहार रहा था और यह वास्तव में बहुत सुंदर थी, मैंने उसकी पतली कमर ने अपनी बाहों डाल कर उसे कसकर गले से लगा लिया, उसे चूमा और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच में धकेल दिया और मुझे उसकी झांटों के बीच योनि के नंगे होंठ महसूस किये। मैंने मिली को एयरपोर्ट से घर के रास्ते के बीच में ही चोद दिया।

घर में मिली मुझे खींच कर अपने कमरे में ले गयी।अगले कुछ ही पलो में हम दोनों चुंबन करते हुए नग्न हो गए और बिस्तर में एक दुसरे के साथ गुथम गुथा हो गए। उसके बाद तय हुआ एमी के कौमार्य भंग करने का कार्यक्रम कल रात के लिए रखा गया और आज रात मैं लिली और मिली को समर्पित की जायेगी।

अंत में जब तय समय हो गया तो मैं उठा और मिली के कमरे में गया और फिर मिली, लिली और एमी को चुंबन किया। फिर नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया।

अब आगे:-

मिली ने मुझे लड़कियों के सामने पहले ही मास्टर के रूप में सम्बोधित किया था और सब लड़कियों को संकेत दे दिया था कि उनको मेरी बात माननी होगी। इस दौरान मैंने अपनी गोद में बैठी मिली के नितम्बो पर हाथ फेरा और उसे अपनी गोद में उसके पेट के बल लेटा लिया ताकि उसके प्यारे गोल-मटोल नितम्ब और गांड सीधे मेरी आँखों के नीचे हो और मेरे हाथों के लिए आसानी से उपलब्ध हो। मेरी टांगो के ऊपर लेटी हुई, मिली के प्यारे, रोमांचक और जो कभी भी कल्पना कोइये जा सकते थे वह सबसे मनोरम कूल्हे गोल नितम्ब और प्यारी-सी गांड मुझे दिखाई दे रहे थे और मैंने अपने हाथों को उनके चारों ओर फिरा कर और उनके साथ खेलने की इजाजत देकर मेरी और उसकी निकटता का पूरा फायदा उठाया।

अपने साथीयो के सौंदर्य से प्रसन्न होने के अलावा, मैं अब खुद को उसकी निकटता के कारण शारीरिक रूप से उत्साहित महसूस कर रहा था और यह तथ्य कि मुझे पता था कि वह मेरी इच्छा अनुसार उपयोग करने के लिए प्रस्तुत और अधीर थी। कामुक आवेगों के इस बढ़ते ज्वार ने केवल उस उत्सुकता को बढ़ाने का काम किया जिसके साथ मेरे हाथ उस के नितम्बो को सहलात रहे थे और मिली के रमणीय कूल्हों, नितंबों और जाँघों की उत्कृष्ट रचनाओं का अन्वेषण कर रहे थे। वह मेरी हाथ की हरकतों के कारण कराह रही थी, लेकिन इसका विरोध करने या मेरे हाथों से बचने की उसने कोई कोशिश नहीं की । मुझे मिली के साथ उसके नरम कूल्हों को सहलाते देख बाकी लड़किया धीरे-धीरे पीछे हट गयी ।

इसी बीच मैंने मिली की सहायिका सपना की एक कराह को सुना। मैंने उसकी ओर देखा और पाया कि उसने एक हल्के नीले रंग की पोशाक पहनी हुई थी जिसमे एक बहुत ही प्यारी-सी और छोटी गुलदस्ते वाली स्कर्ट थी जो केवल उसके कोमल कूल्हों के ढक रही थी और उसकी जाँघे नग्न थी और भी अपनी सखी मिली को इस तेरह से नग्न देख कामुक उत्तेजना में अपने टांगो को टांगो से सहला रही थी और अपने होंठ काट रही थी जिससे आभास हो रहा था कि उसकी योनि में भी कुछ हो रहा था जो उसे कराहने पर मजबूर कर रहा था ।


[Image: BELLY1.jpg]


उसकी छोटी स्कर्ट के नीचे उसके लंबी गोल टाँगे थी जो एक ग्लैमरस महिला के अंगों की महिमा को दिखा रही थी। सपना की टखनों में घुटनो के ऊपर तक लम्बे सफेद मोज़े पहने हुए थे और उसने काले रंग के कम एड़ी वाले पेटेंट चमड़े के जूते पहने हुए थे, जिसके नीचे एक पट्टा था। कुल मिलाकर वह एक पूरी तरह से रमणीय युवा लड़की थी और आज रात की पार्टी के लिए तैयार थी और उसे अभी कोई अंदाजा नहीं था की आज रात कैसी पार्टी होने वाली थी।

वह उत्साहित लग रही थी, उसके लम्बे बाल उसकी लंबी पोनी टेल में बंधे हुए थे जो उसके सिर के पिछले हिस्से से बाहर निकली हुई थी। उसका चेहरा गोल बड़ी काली आँखों वाला, छोटी-सी पतली लम्बी नाक और सबसे कामुक, भरे हुए, भरे हुए होंठ जो मैंने कभी किसी भी उम्र की लड़की पर नहीं देखे थे। उसके होठ बडे-बडे थे। उसपर उसने गहरे लाल रंग की लिपस्टिक लगा रखी थी। जो उसकी सुन्दरता को और बढ़ा रही थी। उसके चहरे पर एक आमत्रंण का भाव था जैसे कह रही हो आओ और चुम लो मेरे होठों को। उसका भी रंग गोरा था लेकिन मिली जितना नहीं। वह मिली की हम उम्र थी पर अपनी-अपनी उमर से करीब चार पांच साल छोटी दिखती थी। उसकी आँखे बडी-बडी थी, जिन में वासना भरी हुयी थी।


[Image: asha0.gif]

फिर मेरी नज़र उसके बदन पर गयी बडा ही भरपूर बदन था उसका। उसका गदराया बदन देख कर मेरा लंड पैन्ट के अन्दर ही उछलने लगा था। उसका टॉप स्लीव लेस था और उसमे कफ़ी गहरा कट था, जिसकी वजह-सी उसके बडे-बडे मम्मे आधे से ज़्यादा ब्लाउस से बाहर झाँक रहे थे। सपना ने बहुत ही टाईट टॉप पहन रखा था क्योकी उसके मम्मो की दोनों बडी-बडी गोलाईयाँ आपस मैं चिपक गयी थी और एक गहरा कट बना रही थी। जो कि बडा ही सेक्सी लग रहा था।

उसके जवान रस भरे ओंठ चूमने और चूसने के लिए ही बने हुए थे उसके रस भरे होंठ देख मैं सोचने लगा की इन ओंठो से और कौन से अन्य कर्तव्यों किये जाने हैं। वह बहुत सुंदर लग रही थी और उसका यौवन छलक रहा था।

फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया तो उसने मिली की तरफ उसकी इजाज़त के लिए देखा। मिली ने सिर हिलाया और फिर सपना मेरे पास आ गई और मैंने अपने हाथों को उसके शरीर पर अश्लील तरीके से घुमाया, जिसे वह रोकने के लिए कुछ नहीं कर सकती थी। फिर मैंने अपने हाथों को उसकी पीली नीली पोशाक की छाती में घुसा दिया और ऊपर को टॉप को नीचे की ओर लगभग उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके कारण उजागर हुए उसके स्तनों को मैंने पकड़ लिया और उन्हें उसके कपड़ों से बाहर खींच लिया और टॉप के फाटे हुए हिस्से को इस तरह से खींच कर फैलाया कि वे अपनी पूरी कुदरती सुंदरता में उसकी हल्के नीले रंग की पोशाक के बीच में से प्रदर्शित हों और मेरे लिए आसानी से उपलब्ध हो और उन्हें सहलाने लगा।



[Image: ARAB3.jpg]
इसके बाद मैंने उसकी स्कर्ट की कई ढीली सिलवटों को ऊपर उठाया, उसकी पोशाक के सामने वाले हिस्से को उठा लिया, जिससे उसका योनि क्षेत्र मेरे हाथों और आंखों के सामने आ गया। अब, उसके कराहने के बावजूद, मैंने अब उसकी तनावपूर्ण जाँघों के बीच, उसकी योनी में एक उंगली घुसा दी। वह इस कामुक हमले पर चिल्लाई, मैंने उसकी पतली कमर में अपना दूसरा डाला और उसे कसकर गले से लगा लिया। बिना किसी प्रतिरोध के उसने मुझे किस करने दिया फिर अपने हाथ को उसकी कमर के सामने की ओर घुमाते हुए, मैंने साहसपूर्वक उसके स्तनों को दबाया और उंगलीयो से उसकी उत्तेजित निप्पल को मसल दिया।

जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply
08-16-2023, 08:27 PM,
#92
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र

चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -19

सपना के नग्न सौंदर्य का निरीक्षण कर उसे सराहा.


आपने "मेरे अंतरंग हमसफ़र चतुर्थ अध्याय भाग 18 में पढ़ा

फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया तो उसने मिली की तरफ उसकी इजाज़त के लिए देखा। मिली ने सिर हिलाया और फिर सपना मेरे पास आ गई और मैंने अपने हाथों को उसके शरीर पर अश्लील तरीके से घुमाया, जिसे वह रोकने के लिए कुछ नहीं कर सकती थी। फिर मैंने अपने हाथों को उसकी पीली नीली पोशाक की छाती में घुसा दिया और ऊपर को टॉप को नीचे की ओर लगभग उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके कारण उजागर हुए उसके स्तनों को मैंने पकड़ लिया और उन्हें उसके कपड़ों से बाहर खींच लिया और टॉप के फाटे हुए हिस्से को इस तरह से खींच कर फैलाया कि वे अपनी पूरी कुदरती सुंदरता में उसकी हल्के नीले रंग की पोशाक के बीच में से प्रदर्शित हों और मेरे लिए आसानी से उपलब्ध हो और उन्हें सहलाने लगा।

इसके बाद मैंने उसकी स्कर्ट की कई ढीली सिलवटों को ऊपर उठाया, उसकी पोशाक के सामने वाले हिस्से को उठा लिया, जिससे उसका योनि क्षेत्र मेरे हाथों और आंखों के सामने आ गया। अब, उसके कराहने के बावजूद, मैंने अब उसकी तनावपूर्ण जाँघों के बीच, उसकी योनी में एक उंगली घुसा दी। वह इस कामुक हमले पर चिल्लाई, मैंने उसकी पतली कमर में अपना दूसरा डाला और उसे कसकर गले से लगा लिया। बिना किसी प्रतिरोध के उसने मुझे किस करने दिया फिर अपने हाथ को उसकी कमर के सामने की ओर घुमाते हुए, मैंने साहसपूर्वक उसके स्तनों को दबाया और उंगलीयो से उसकी उत्तेजित निप्पल को मसल दिया।

आपने मेरी कहानी " मेरे अंतरंग हमसफ़र " में अब तक पढ़ा:

मैं अपनी पत्नी प्रीती को अपनी अभी तक की अंतरंग हमसफर लड़कियों के साथ मैंने कैसे और कब सम्भोग किया। ये कहानी सुनाते हुए बता रहा था की, किस तरह मेरी फूफरी बहन की पक्की सहेली हुमा की पहली चुदाई जो की मेरे फूफेरे भाई टॉम के साथ होने वाली थी। टॉम को बुखार होने के बाद मेरे साथ तय हो गयी। फिर सब फूफेरे भाई, बहनो और हुमा की बहन रुखसाना तथा मेरी पुरानी चुदाई की साथिनों रूबी, मोना और टीना की मेरी और हुमा की पहली चुदाई को देखने की इच्छा पूरी करने के लिए सब लोग गुप्त तहखाने में बने हाल में ले जाए गए। मैं दुल्हन बनी खूबसूरत और कोमल मखमली जिस्म और संकरी चूत वाली हुमा ने अपना कौमर्य मुझे समर्पित कर दिया उसके बाद मैंने उसे सारी रात चोदा और यह मेरे द्वारा की गई सबसे आनंदभरी चुदाई थी। उसके बाद सब लोग घूमने मथुरा आगरा, भरतपुर और जयपुर चले गए और घर में एक हफ्ते के लिए केवल मैं, हुमा और रोज़ी रह गए। जाते हुए रुखसाना बोली दोनों भरपूर मजे करना। उसके बाद मैं और हुमा एक दूसर के ऊपर भूखे शेरो की तरह टूट पड़े और हुमा को मैंने पहले चोदा और फिर उसके बाद बहुत देर तक चूमते रहे।

उसके बाद मैं फूफा जी के कुछ जरूरी कागज़ लेकर श्रीमती लिली से मिलने गया पर इस कारण से हुमा नाराज हो कर चली गयी । लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था। उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा, और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। मैंने लिली की जांघो और उसकी टांगो को चूमा और सहलाया फिर उसकी योनि के ओंठो को चूमा, चूसा और फिर मेरी जीभ ने उसके महीन कड़े भगशेफ की खोज की, मैंने उसे परमानंद में चूसा, और उसने मेरा मुँह अपने चुतरस से भर दिया।

लिली ने लंड को पकड़ लंडमुड से भगनासा को दबाया और योनि के ओंठो पर रगड़ा और अपनी जांघो की फैलाते हुए योनि के प्रवेश द्वार पर लंड को लगाया और उसने अपने नितंबों को असाधारण तेज़ी और ऊर्जा के साथ ऊपर फेंक दिया। मेरा कठोर खड़ा हुआ लंड लिली की टाइट और कुंवारी चूत के छेद में घुस गया और मैंने लिली को आसन बदल कर भी चोदा। मैं पास के कमरे में गया वहां हुमा थीं। हम दोनों एक दूसरे की बांहो जकड़ कर जन्नत के आनंद का मज़ा लिए और मैंने ढेर सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ा।

कुछ देर बाद पर्दा हटा कर मैंने लिली के कक्ष में झाँका और मैंने वहाँ बिस्तर पर गहरी नींद में सोई हुई प्यारी परम् सुंदरी लिली को देखा। मैं अपने उत्तेजित और झटकेदार उपकरण के सिर और बिंदु को उसके निचले आधे हिस्से के बिल्कुल सामने ले आया और फिर मैंने एक झटके में ही लंड मुंड को अंदर कर दिया! मेरा लंड एक बार फिर झड़ने के बाद कठोर ही रहा और उसे देख लिली थोड़ा आश्चर्यचकित हुई और मैंने उसने अपने ऊपर आने के लिए उत्साहित किया। हुमा भी घण्टे की आवाज़ से जग गयी थी और मुझे ढूँढते हुए लिली के कमरे में पता नहीं कब आ गयी थी लिली की चुदाई देखने के बाद हुमा भी मेरे साथ चिपक गयी। फिर मैंने हुमा और लिली की रात भर चुदाई की। अगले दिन लिली बोली अब तुम्हे मेरी दोनों बहने भी चाहती हैं और तुम्हे उन्हें भी चोदना होगा। दीपक मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरी बहनें मिली सबसे बेहतरीन महिला हैं और एमी बहुत कमसिन है। मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रखते हुए उत्तर दिया मैं अपने आप को पूरी तरह से आपको समर्पित करता हूँ और आपकी सेवा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा और हमने उसकी कार से हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान किया।'



[Image: 1f.jpg]
कार में मैं मिली की बगल में बैठा उसे निहार रहा था और यह वास्तव में बहुत सुंदर थी, मैंने उसकी पतली कमर ने अपनी बाहों डाल कर उसे कसकर गले से लगा लिया, उसे चूमा और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच में धकेल दिया और मुझे उसकी झांटों के बीच योनि के नंगे होंठ महसूस किये। मैंने मिली को एयरपोर्ट से घर के रास्ते के बीच में ही चोद दिया।

घर में मिली मुझे खींच कर अपने कमरे में ले गयी।अगले कुछ ही पलो में हम दोनों चुंबन करते हुए नग्न हो गए और बिस्तर में एक दुसरे के साथ गुथम गुथा हो गए। उसके बाद तय हुआ एमी के कौमार्य भंग करने का कार्यक्रम कल रात के लिए रखा गया और आज रात मैं लिली और मिली को समर्पित की जायेगी।

अंत में जब तय समय हो गया तो मैं उठा और मिली के कमरे में गया और फिर मिली, लिली और एमी को चुंबन किया। फिर नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया। फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया और मैंने उसकी पीली नीली पोशाक की टॉप को उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके स्तनों को पकड़ लिया और उन्हें सहलाने लगा।।

अब आगे:-

फिर मैंने सपना के टॉप को निकाल कर उसके सफ़ेद संगमरमरी बड़े दृढ़ स्तनों और शरीर के ऊपरी भाग का अनावरण किया तो लड़किया विस्मय और ईर्ष्या से देखने लगी। उसके बड़े स्तनों के बड़े घेरे के ऊपर भूरे रंग के खड़े हुए निपल्स, शंक्वाकार और नुकीले होने के कारण बाहर निक्ले हुए थे। वह अपने स्ट्रॉबेरी निपल्स को प्रदर्शित करने में गर्व महसूस कर रही थी। मैंने उसके स्तनों को दबोच कर कब्ज़ा किया और मैंने फिर उन्हें थपथपाया तो उसकी एक छोटी-सी आह निकली ।

जब मैंने ऐसा किया, तो उसके गर्वीले स्तन पहले से और दृढ़ हो गए जिसे देख वहाँ की सभी लड़कियों की आँखें प्रशंसा में थोड़ी खुली, जिससे सपना को प्रसन्नता हुई। उसके स्तन अच्छी तरह से विकसित हो चुके थे पर बिलकुल भी ढलके हुए नहीं थे, त्वचा मखमली चिकनी और समृद्ध थी, मैंने उसके निप्पलो को तब तक धीरे-धीरे घुमाते हुए उन्हें मसला जब तक कि उसका चेहरा लाल नहीं हो गया और मैंने उसके निप्पलों को भी कठोर महसूस किया।


[Image: boobs3a.jpg]

जब मैंने उसके निप्पल खींचे और सपना ओह्ह्ह आअह्ह्ह्ह कराही तो मिली बड़बड़ायी दीपक! कृपया उसके साथ कोमल रहो। वह मेरी बहुत प्यारी और आज्ञाकारी है और अभी तक कुंवारी है और इस बीच एक हाथ से मैं अभी भी सपना की कुंवारी योनी को छूने में व्यस्त था।

संगमरमर जैसे मम्मे और मखमली चिकनी जांघें दोनों उस समय मेरे कब्ज़े में थे वह क्या बात है!

फिर मैंने उसे आगे झुकने के लिए कहा जिससे उसकी चिकनी और मखमली गांड और गोल नितमाब मेरे सामने आ गए. उसके बाद, मेरे एक हाथ ने उसकी और मखमली चिकनी जांघो को धीरे से सहलाया और उसके नितम्बो को दृढ़ता और गोल रूपरेखा को महसूस किया। वह मेरे स्पर्श से हिल रही थी। फिर मैंने उसे अपनी पैंटी उतारने का आग्रह किया और उसके हाथ अपनी प्यारी छोटी पैंटी के बीच पहुँच गए। कुछ टगिंग और झटकों के बाद उसने अपनी स्कर्ट को ढीला किया और पेंटी के सहित उसकी स्कर्ट का पूरा मध्य भाग नीचे आ गया क्योंकि उसने अपने पूरे नीचे के परिधान को नीचे खींच लिया था।

फिर मैंने उसकी सफेद झालरदार पैंटी को तब तक नीचे खींचा जब तक कि वे उसकी जांघों के चारों ओर, उसकी योनि क्षेत्र के नीचे नहीं लटक गईं। उसके नितंब गांड और योनी सब मेरी आसान पहुँच के भीतर थी और वह गुलाबी और प्यारी लग रही थी कि उसे मैं उसे सहलाने के लिए अपना हाथ उसके निचले अंगो पर ले गया।

उसके नीचे की खूबसूरत गोल गुलाबी गोल पहाड़ियाँ, बीच में उसकी गांड के नाजुक खांचे के साथ बेहद सुंदर लग रही थी। उस तनावपूर्ण मुद्रा में जिसमे सपना आगे को झुकी हुई अपना निचला पिछले भाग मुझे प्रदर्शित कर रही थी। मैं उसके गुदा के गहरे गुलाबी छेद और उसकी योनि के गुलाब की कोमल काली को उसकी, कोमल घाटी के तल पर स्थित देख रहा था और उसके नितम्बो के ताल के नीचे उसके दोनों ओर मोटे गुलाबी होंठों के साथ तंग और गर्म योनि क्षेत्र था जिसमे उसकी छोटी-सी बचकानी योनी थी। उसकी योनि आंशिक रूप से उसकी जाँघों के बीच छिपी हुई थी लेकिन उसकी योनि वहाँ अपनी उपस्थिति मुझे दर्शा रही और मैं ये पर्याप्त प्रकार से देख रहा था कि उसकी कुंवारी योनि तंग थी और वह मेरी थी। सपना और उसकी योनि किसी भी तरह से इस्तेमाल करने के लिए मेरी थी और ये बात जान कर मुझे प्रसन्नता हुई की सपना मुझे अपना ासर्वस्व समर्पण करने को तटपर थी और मेरी आज्ञाकारी थी।


[Image: hips.gif]

मैंने हाथो की आगे बढ़ाया और उसके नितमाबो पर एक हलकी से चपत लगाई । पर मेरी हलकी चपत भी उसके नरम और नाजुक मांस के लिए काफी तेज थी और उसके मुँह से कराह निकली और फिर मैंने धीरे से उसके नितम्बो और गांड के कोमल गर्म मांस को एक ऊँगली से सहलाया। तो सपना फिर से कराह उठी।

आपने सुना होगा कि चीजों की चिकनाई की तुलना एक लड़की के नितम्बो की तरह चिकनी होने के रूप में बतायी जाती है। सपना एक बच्ची तो नहीं थी, लेकिन मैंने कभी भी किसी के नितम्बो को इतना चिकना, चमकदार, गर्म और दुलार करने योग्य महसूस नहीं किया था, क्योंकि जब मेरे हाथ उसकी चिकनी गांड पर गए थे तो बार-बार नीचे को फिसल रहे थे। इस कोमल स्पर्श के कुछ क्षणों के बाद जब सपना को कोई दर्द नहीं दिया तो वह थोड़ा आराम करने लगी। लेकिन जब मैंने उन उत्तम नितंबों के बीच मखमली के खांचे के नीचे एक उंगली धीरे से डाली तो वह एक तेज कराह के साथ मैंने उसके नितम्बो, गांड और योनि में तनाव महसूस किया तो फिर मैंने उसकी गांड और योनि के टाइट छेद जिसमे मेरी ऊँगली बड़ी मुश्किल गयी थी उसमे से ऊँगली को निकाल लिया और उसकी योनि और गांड और फिर उसके नितम्बो को सहलाया।

फिर मैंने उसे अपने हाथ की हथेली से उसके नितम्बो जो अब गुलाबी हो गए थे उसके निचले हिस्से पर हल्के से थपथपाया और कहा, "ठीक है, सपना। अब आप खड़े हो सकती हैं।"

वह झटके से सीधी हुई और मेरी ओर मुड़ गयी, शर्मिंदगी और झुकने से उसका चेहरा चमकदार लाल हो गया था। आश्चर्यजनक रूप से वह अब और भी अधिक आकर्षक और अधिक रोमांचक लग रही थी क्योंकि वह मेरे सामने खड़ी थी, वह धीरे-धीरे घूमी ताकि मैं उसकी पूरी सुंदरता का स्वाद ले सकूं।

मैंने सामने देखा तो उसका स्तन, पेट, कूल्हों और योनि क्षेत्र स्पष्ट रूप मेरे सामने थे, लेकिन उसके नंगे बाल रहित योनि के गुलाबी होंठों मेरा ध्यान सबसे ज्यादा आकर्षित कर रहे थे। पीठ में उसके नितम्बो के गालो के बीच की गहरी घाटी ने सपना के दिलकश आकर्षण को और अधिक मनोरम बना दिया। वह सर से लेकर अपने टांगो की जुराबों तक पूरी तरह से नग्न और मेरे लिए जैसे चाहे भोगने के लिए उपलब्ध थी।


[Image: IND-P1.jpg]
be safe pictures

मैंने सब लड़कियों का अधिक बारीकी से निरीक्षण किया कि मुझे मैं वास्तव में क्या और किसके साथ क्या काम करना है। मैंने अभी भी उसकी बांह को अपने हाथ में पकड़ रखा था और मैंने धीरे-धीरे उसे एक पूरे घेरे में घुमाया, ताकि उसे पूरी तरह से देख सकु।

मैंने उसे फिर से अपने पास खड़ा कर दिया और मैंने धीरे से अपने बाएँ हाथ की मध्यमा उंगली को उसकी मोटी छोटी जांघों के बीच में डाल दिया और ऊपर वहाँ तक ले गया, जहाँ वे उसके पेट में मिलती थी। सपना विरोध करने के लिए हिली, लेकिन मेरी ओर से एक कड़ी नज़र ने उसे आज्ञाकारी और निष्क्रिय रखा। फि मैंने उसे किसी भी तरह से चोट पहुँचाने या उसका उल्लंघन करने का कोई प्रयास नहीं किया, बल्कि उसकी गर्म गुलाबी योनि को बहुत सहलाया और उसके पूर्वावलोकन से मिलने वाले आनद का उसे पुनः आभास करवाया।

यह अनुभव मेरे और सभी लड़कियों के लिए पूरी तरह से अद्भुत था। "ठीक है, सपना अब जाओ और अपने स्थान पर खड़ी हो जाओ।" मैंने सपना से कहा और उसका दिल खुशी से उछल पड़ा और वह तुरंत मेरे पास से आज्ञा मान अपने जगह की और चल दी तो मैंने उसके नितम्बो के गालों को बारी-बारी से तनावग्रस्त और ढीले होते हुए देखा।

जारी रहेगी


दीपक कुमार
Reply
08-16-2023, 08:28 PM,
#93
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र

चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -20

  सौंदर्य निरिक्षण



आपने "मेरे अंतरंग हमसफ़र चतुर्थ अध्याय भाग 19 में पढ़ा:

मैंने अभी भी उसकी बांह को अपने हाथ में पकड़ रखा था और मैंने धीरे-धीरे उसे एक पूरे घेरे में घुमाया, ताकि उसे पूरी तरह से देख सकु।


[Image: EXAMINE1.png]

मैंने उसे फिर से अपने पास खड़ा कर दिया और मैंने धीरे से अपने बाएँ हाथ की मध्यमा उंगली को उसकी मोटी छोटी जांघों के बीच में डाल दिया और ऊपर वहाँ तक ले गया, जहाँ वे उसके पेट में मिलती थी। सपना विरोध करने के लिए हिली, लेकिन मेरी ओर से एक कड़ी नज़र ने उसे आज्ञाकारी और निष्क्रिय रखा। फि मैंने उसे किसी भी तरह से चोट पहुँचाने या उसका उल्लंघन करने का कोई प्रयास नहीं किया, बल्कि उसकी गर्म गुलाबी योनि को बहुत सहलाया और उसके पूर्वावलोकन से मिलने वाले आनद का उसे पुनः आभास करवाया।

यह अनुभव मेरे और सभी लड़कियों के लिए पूरी तरह से अद्भुत था। "ठीक है, सपना अब जाओ और अपने स्थान पर खड़ी हो जाओ।" मैंने सपना से कहा और उसका दिल खुशी से उछल पड़ा और वह तुरंत मेरे पास से आज्ञा मान अपने जगह की और चल दी तो मैंने उसके नितम्बो के गालों को बारी-बारी से तनावग्रस्त और ढीले होते हुए देखा।

आपने मेरी कहानी मेरे अंतरंग हमसफ़र में अब तक पढ़ा:

मैं अपनी पत्नी प्रीती को अपनी अभी तक की अंतरंग हमसफर लड़कियों के साथ मैंने कैसे और कब सम्भोग किया। ये कहानी सुनाते हुए बता रहा था की, किस तरह मेरी फूफरी बहन की पक्की सहेली हुमा की पहली चुदाई जो की मेरे फूफेरे भाई टॉम के साथ होने वाली थी। टॉम को बुखार होने के बाद मेरे साथ तय हो गयी। फिर सब फूफेरे भाई, बहनो और हुमा की बहन रुखसाना तथा मेरी पुरानी चुदाई की साथिनों रूबी, मोना और टीना की मेरी और हुमा की पहली चुदाई को देखने की इच्छा पूरी करने के लिए सब लोग गुप्त तहखाने में बने हाल में ले जाए गए। मैं दुल्हन बनी खूबसूरत और कोमल मखमली जिस्म और संकरी चूत वाली हुमा ने अपना कौमर्य मुझे समर्पित कर दिया उसके बाद मैंने उसे सारी रात चोदा और यह मेरे द्वारा की गई सबसे आनंदभरी चुदाई थी। उसके बाद सब लोग घूमने मथुरा आगरा, भरतपुर और जयपुर चले गए और घर में एक हफ्ते के लिए केवल मैं, हुमा और रोज़ी रह गए। जाते हुए रुखसाना बोली दोनों भरपूर मजे करना। उसके बाद मैं और हुमा एक दूसर के ऊपर भूखे शेरो की तरह टूट पड़े और हुमा को मैंने पहले चोदा और फिर उसके बाद बहुत देर तक चूमते रहे।

उसके बाद मैं फूफा जी के कुछ जरूरी कागज़ लेकर श्रीमती लिली से मिलने गया पर इस कारण से हुमा नाराज हो कर चली गयी । लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था। उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा, और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। मैंने लिली की जांघो और उसकी टांगो को चूमा और सहलाया फिर उसकी योनि के ओंठो को चूमा, चूसा और फिर मेरी जीभ ने उसके महीन कड़े भगशेफ की खोज की, मैंने उसे परमानंद में चूसा, और उसने मेरा मुँह अपने चुतरस से भर दिया।

[Image: lick1c.webp]
i pics download

लिली ने लंड को पकड़ लंडमुड से भगनासा को दबाया और योनि के ओंठो पर रगड़ा और अपनी जांघो की फैलाते हुए योनि के प्रवेश द्वार पर लंड को लगाया और उसने अपने नितंबों को असाधारण तेज़ी और ऊर्जा के साथ ऊपर फेंक दिया। मेरा कठोर खड़ा हुआ लंड लिली की टाइट और कुंवारी चूत के छेद में घुस गया और मैंने लिली को आसन बदल कर भी चोदा। मैं पास के कमरे में गया वहां हुमा थीं। हम दोनों एक दूसरे की बांहो जकड़ कर जन्नत के आनंद का मज़ा लिए और मैंने ढेर सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ा।

कुछ देर बाद पर्दा हटा कर मैंने लिली के कक्ष में झाँका और मैंने वहाँ बिस्तर पर गहरी नींद में सोई हुई प्यारी परम् सुंदरी लिली को देखा। मैं अपने उत्तेजित और झटकेदार उपकरण के सिर और बिंदु को उसके निचले आधे हिस्से के बिल्कुल सामने ले आया और फिर मैंने एक झटके में ही लंड मुंड को अंदर कर दिया! मेरा लंड एक बार फिर झड़ने के बाद कठोर ही रहा और उसे देख लिली थोड़ा आश्चर्यचकित हुई और मैंने उसने अपने ऊपर आने के लिए उत्साहित किया। हुमा भी घण्टे की आवाज़ से जग गयी थी और मुझे ढूँढते हुए लिली के कमरे में पता नहीं कब आ गयी थी लिली की चुदाई देखने के बाद हुमा भी मेरे साथ चिपक गयी। फिर मैंने हुमा और लिली की रात भर चुदाई की। अगले दिन लिली बोली अब तुम्हे मेरी दोनों बहने भी चाहती हैं और तुम्हे उन्हें भी चोदना होगा। दीपक मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरी बहनें मिली सबसे बेहतरीन महिला हैं और एमी बहुत कमसिन है। मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रखते हुए उत्तर दिया मैं अपने आप को पूरी तरह से आपको समर्पित करता हूँ और आपकी सेवा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा और हमने उसकी कार से हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान किया।'

कार में मैं मिली की बगल में बैठा उसे निहार रहा था और यह वास्तव में बहुत सुंदर थी, मैंने उसकी पतली कमर ने अपनी बाहों डाल कर उसे कसकर गले से लगा लिया, उसे चूमा और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच में धकेल दिया और मुझे उसकी झांटों के बीच योनि के नंगे होंठ महसूस किये। मैंने मिली को एयरपोर्ट से घर के रास्ते के बीच में ही चोद दिया।

घर में मिली मुझे खींच कर अपने कमरे में ले गयी।अगले कुछ ही पलो में हम दोनों चुंबन करते हुए नग्न हो गए और बिस्तर में एक दुसरे के साथ गुथम गुथा हो गए। उसके बाद तय हुआ एमी के कौमार्य भंग करने का कार्यक्रम कल रात के लिए रखा गया और आज रात मैं लिली और मिली को समर्पित की जायेगी।

अंत में जब तय समय हो गया तो मैं उठा और मिली के कमरे में गया और फिर मिली, लिली और एमी को चुंबन किया। फिर नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया। फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया और मैंने उसकी पीली नीली पोशाक की टॉप को उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके स्तनों को पकड़ लिया और उन्हें सहलाने लगा।उसकी गर्म गुलाबी योनि को बहुत सहलाया और उसका सौंदर्य निरिक्षण किया और सपना को उसके स्थान की तरफ जाते हुए मैंने उसके नितम्बो के गालों को बारी-बारी से तनावग्रस्त और ढीले होते हुए देखा।

अब आगे:-

फिर मैंने मिली को अपने घुटने के ऊपर से उठाया और उसे अपने साथ बिठा कर उसे चूमा और आगे की कार्यवाही पर उसके साथ चर्चा की।

फिर मैं अपनी कुर्सी से उठा और सब लड़कियों के सामने से गुजरा और उन्हें करीब से देखा वहाँ पर उस समय वहाँ पर सबसे पहले सपना खड़ी हुई थी जो की पूरी नग्न थी, उसकी साथ में लिली सपना एमी, हुमा शबनम और अंत में डेज़ी खड़ी हुई थी और मिली मेरी कुर्सी के साथ बैठी हुई थी, तभी रोजी ख़ास पेय बना कर लायी और उसे हम सबने पिया फिर मैंने हुमा के पीछे जा कर पीछे से उसकी गुलाबी ड्रेस उतार दी और उसकी ब्रा खोली और उसकी ब्रा उसकी पोशाक पर फिसली और नीचे गिर गयी। चूंकि उसके स्तन मेरे सामने आ गए थे, उसके हाथ उनको छुपाने के लिए सहज रूप से ऊपर जाना चाहते थे, लेकिन जैसे ही उसने शर्माते हुए अपने हाथ हिलाने और ऊपर को उठाने शुरू किये तो उस समय रोजी मेरी मंशा भांप गयी थी और रोजी जो उसके लगभग सामने थी ने उसे चेतावनी में नकारात्मक सर हिला कर इशारा किया। उसे अंदेशा हुआ की इस समय मैं बहुत कामुक हूँ और जैसा की अभी तक मैंने सपना और मिली के साथ किया था इस समय मैं सभी लड़कियों के सौंदर्य का निरीक्षण करना चाहता था। इस समय मेरे मतव्य में अगर कोई भी रुकावट पेश करेगा तो वह मुझे बुल्कुल अच्छा नहीं लगेगा।

हुमा यह भी जानती थी कि मेरे द्वारा उसका मेडिकल परीक्षण नहीं किया जा रहा था, बल्कि एक दास की तरह उसका निरीक्षण किया जा रहा था ताकि ये पता लगाया जा सके की कि उसका शरीर पूरी तरह से बना हुआ है और उसकी क्या विशेषताएँ है। हुमा ने खुद को उतना अकेला और असहाय महसूस किया. जितना एक गुलाम लड़की को तब महसूस होता है जब उसे नीलामी ब्लॉक पर रखा जाता है, उसके कपड़े उतार दिए जाते हैं और सबसे ऊंची बोली लगाने वाले को बेच दिया जाता है।


[Image: HAREM0.jpg]

हालाँकि यहाँ उसे बेचा नहीं जाना था पर मैं सब अन्य लड़कियों के सामने उसे नग्न कर उसका निरिक्षण कर रहा था ।

मैंने एक बेंत जो उस कमरे में मेरी कुर्सी के पास रखी हुई थी वह उठा ली और मेरे चेहरे के भाव देखकर हुमा को यह विचार और भी अधिक सत्य लग रहा था, क्योंकि उसने कहानी की किताबों में पढ़ा था कि गुलाम लड़कियों को कोड़े के नीचे कपड़े उतारने के लिए मजबूर किया जाता था और अगर मैंने उसके कपड़े नहीं उतारे होते, तो उसे बेंत मार कर नग्न होने के लिए मजबूर किया जाता। तो हुमा ने मेरे सामने उसी समय आत्मसमर्पण कर दिया वैसे भी वह मेरे से चुदाई सबके सामने करवा ही चुकी थी । वह जानती थी कि किसी भी तरह का प्रतिरोध बेकार है और वह मदद के लिए चिल्लाये तो भी उसकी सहायता करने वाला यहाँ कोई नहीं था। मिली और लिली जो की इस जगह की मालकिन थी मुझे पहले ही सबके सामने मास्टर कह सम्बोधित कर चुकी थी । इन हालात में वह केवल निष्क्रिय रह और मेरी आज्ञा का पालन कर अपनी अधीनता को स्वीकृति को प्रदर्शित कर मेरी कृपा प्राप्त करने की उम्मीद कर रही थी।

मेरे हाथ में बेंत पर मैंने दूसरा हाथ फिराया तो हुमा कांपने लगी। चोली को हटाने के बाद, मैंने उसके उजागर हुई अंगो को अच्छी तरह से देखा। मैंने परीक्षण धीरे-धीरे और इत्मीनान से किया, इसके मेडिकल होने का केवल एक छोटा-सा ढोंग करते हुए, मैंने उसकी बाहों की मांसपेशियों का निरिक्षण किया और उसकी त्वचा की कोमल बनावट को महसूस किया, और फिर मैंने अपना ध्यान उसकी टांगो की ओर लगाया।



[Image: ARAB4.jpg]
"हुमा! आपको इन्हें भी उतारना होगा,," मैंने बेंत को उसकी लोचदार कमर पर फिराते हुए फिर उसकी पेंटी के अंदर डाल नीचे करते हुए कहा।

अबसे पहले हमेशा ऐसे किसी मौके पर मैं अपनी हमसफर को प्रिय या मेरी प्रिय कह कर सम्भोधित करता था, परन्तु इस बार मैंने सिर्फ नाम लिया और मेरी आवाज में कुछ कठोरता थी।

यह पहली बार है कि जब आप अपनी पैंटी उतारेंगी तो आपको बेंत मारी जायेगी।

ये बात सुन हुमा कांपने लगी और बाकी लड़किया सिहर गयी और फिर डरते हुए लिली ने पुछा मास्टर हुमा को किस बात की सजा मिलेगी?

मैंने कहा है कि कल अचानक मुझे छोड़ने के लिए हुमा को दंडित किया जाना है, आपको पता होना चाहिए की कल मेरे फूफा जी का फोन आया की मुझे कुछ जरूरी काम करना है तो मोहतरमा ने मेरे साथ झगड़ा किया और उस दौरान मुझे बहुत बुरा लगा और फिर ये लड़ कर मेरे को छोड़ कर चली गयी और फिर जब तक मैं लिली से नहीं मिला, मैं बहुत उदास रहा था।


[Image: WATCH1.webp]
url site

अब मोहतरमा को उनके उस व्यवहार के लिए सजा मिलेगी और आप सबको इन्हे दण्डित करना होगा और इन्हे एक अच्छा व्यवहार करने वाली लड़की बने रहने का वादा करना होगा । आप अपने सुझाव दीजिये।

ये बातचीत चुपचाप सुन रही हुमा जान गयी की यह एक बेकार खतरा नहीं था और मैं उसे बेंत मार कर या ने किसी तरह से उसे दण्डित करूंगा और उसकी जांच उसके बाद भी जारी रहेगी। मेरी बेंत अभी भी उसकी पेंटी में घुसी हुई थी तो हुमा ने तुरत अपनी उंगलिया पेंटी में घुसाई और उसकी पेंटी उसके कूल्हों से नीचे की ओर फिसली और फिर उसके टखनों पर गिर गयी और वह ऐसे ही खड़ी हो गयी।

मिली बोली अगर हम बहने कोई गलती करती थी तो हमे भी सजा मिलती थी। मोहतरमा ने तो ना केवल मास्टर की अवज्ञा की है बल्कि उनसे झगड़ा भी किया है इसलिए मोहतरमा को तब तक पीटना होगा जब तक ये आपकी आज्ञा कारी होने को तैयार नहीं हो जाती। "

"हुमा उनमें से बाहर निकलो और यहाँ मास्टर के घुटनों के बल लेट जाओ," मिली ने निर्देश दिया।

जारी रहेगी
 

दीपक कुमार
Reply
08-20-2023, 05:46 PM, (This post was last modified: 08-20-2023, 06:17 PM by aamirhydkhan.)
#94
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र

चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -21 A

  सजा.


आपने "मेरे अंतरंग हमसफ़र चतुर्थ अध्याय भाग 20   में पढ़ा:

बातचीत चुपचाप सुन रही हुमा जान गयी की यह एक बेकार खतरा नहीं था और मैं उसे बेंत मार कर या ने किसी तरह से उसे दण्डित करूंगा और उसकी जांच उसके बाद भी जारी रहेगी। मेरी बेंत अभी भी उसकी पेंटी में घुसी हुई थी तो हुमा ने तुरत अपनी उंगलिया पेंटी में घुसाई और उसकी पेंटी उसके कूल्हों से नीचे की ओर फिसली और फिर उसके टखनों पर गिर गयी और वह ऐसे ही खड़ी हो गयी।

मिली बोली अगर हम बहने कोई गलती करती थी तो हमे भी सजा मिलती थी। मोहतरमा ने तो ना केवल मास्टर की अवज्ञा की है बल्कि उनसे झगड़ा भी किया है इसलिए मोहतरमा को तब तक पीटना होगा जब तक ये आपकी आज्ञा कारी होने को तैयार नहीं हो जाती। "

"हुमा उनमें से बाहर निकलो और यहाँ मास्टर के घुटनों के बल लेट जाओ," मिली ने निर्देश दिया।


मेरे अंतरंग हमसफ़र में अब तक पढ़ा:
 

मैं अपनी पत्नी प्रीती को अपनी अभी तक की अंतरंग हमसफर लड़कियों के साथ मैंने कैसे और कब सम्भोग किया। ये कहानी सुनाते हुए बता रहा था की, किस तरह मेरी फूफरी बहन की पक्की सहेली हुमा की पहली चुदाई जो की मेरे फूफेरे भाई टॉम के साथ होने वाली थी। टॉम को बुखार होने के बाद मेरे साथ तय हो गयी। फिर सब फूफेरे भाई, बहनो और हुमा की बहन रुखसाना तथा मेरी पुरानी चुदाई की साथिनों रूबी, मोना और टीना की मेरी और हुमा की पहली चुदाई को देखने की इच्छा पूरी करने के लिए सब लोग गुप्त तहखाने में बने हाल में ले जाए गए। मैं दुल्हन बनी खूबसूरत और कोमल मखमली जिस्म और संकरी चूत वाली हुमा ने अपना कौमर्य मुझे समर्पित कर दिया उसके बाद मैंने उसे सारी रात चोदा और यह मेरे द्वारा की गई सबसे आनंदभरी चुदाई थी। उसके बाद सब लोग घूमने मथुरा आगरा, भरतपुर और जयपुर चले गए और घर में एक हफ्ते के लिए केवल मैं, हुमा और रोज़ी रह गए। जाते हुए रुखसाना बोली दोनों भरपूर मजे करना। उसके बाद मैं और हुमा एक दूसर के ऊपर भूखे शेरो की तरह टूट पड़े और हुमा को मैंने पहले चोदा और फिर उसके बाद बहुत देर तक चूमते रहे।



[Image: KIS-DEEP1.gif]
उसके बाद मैं फूफा जी के कुछ जरूरी कागज़ लेकर श्रीमती लिली से मिलने गया पर इस कारण से हुमा नाराज हो कर चली गयी । लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था। उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा, और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। मैंने लिली की जांघो और उसकी टांगो को चूमा और सहलाया फिर उसकी योनि के ओंठो को चूमा, चूसा और फिर मेरी जीभ ने उसके महीन कड़े भगशेफ की खोज की, मैंने उसे परमानंद में चूसा, और उसने मेरा मुँह अपने चुतरस से भर दिया।



[Image: entr-29.gif]
लिली ने लंड को पकड़ लंडमुड से भगनासा को दबाया और योनि के ओंठो पर रगड़ा और अपनी जांघो की फैलाते हुए योनि के प्रवेश द्वार पर लंड को लगाया और उसने अपने नितंबों को असाधारण तेज़ी और ऊर्जा के साथ ऊपर फेंक दिया। मेरा कठोर खड़ा हुआ लंड लिली की टाइट और कुंवारी चूत के छेद में घुस गया और मैंने लिली को आसन बदल कर भी चोदा। मैं पास के कमरे में गया वहां हुमा थीं। हम दोनों एक दूसरे की बांहो जकड़ कर जन्नत के आनंद का मज़ा लिए और मैंने ढेर सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ा।


[Image: SLEEP2.gif]

कुछ देर बाद पर्दा हटा कर मैंने लिली के कक्ष में झाँका और मैंने वहाँ बिस्तर पर गहरी नींद में सोई हुई प्यारी परम् सुंदरी लिली को देखा। मैं अपने उत्तेजित और झटकेदार उपकरण के सिर और बिंदु को उसके निचले आधे हिस्से के बिल्कुल सामने ले आया और फिर मैंने एक झटके में ही लंड मुंड को अंदर कर दिया! मेरा लंड एक बार फिर झड़ने के बाद कठोर ही रहा और उसे देख लिली थोड़ा आश्चर्यचकित हुई और मैंने उसने अपने ऊपर आने के लिए उत्साहित किया। हुमा भी घण्टे की आवाज़ से जग गयी थी और मुझे ढूँढते हुए लिली के कमरे में पता नहीं कब आ गयी थी लिली की चुदाई देखने के बाद हुमा भी मेरे साथ चिपक गयी। फिर मैंने हुमा और लिली की रात भर चुदाई की। अगले दिन लिली बोली अब तुम्हे मेरी दोनों बहने भी चाहती हैं और तुम्हे उन्हें भी चोदना होगा। दीपक मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरी बहनें मिली सबसे बेहतरीन महिला हैं और एमी बहुत कमसिन है। मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रखते हुए उत्तर दिया मैं अपने आप को पूरी तरह से आपको समर्पित करता हूँ और आपकी सेवा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा और हमने उसकी कार से हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान किया।'



[Image: CAR0.gif]
कार में मैं मिली की बगल में बैठा उसे निहार रहा था और यह वास्तव में बहुत सुंदर थी, मैंने उसकी पतली कमर ने अपनी बाहों डाल कर उसे कसकर गले से लगा लिया, उसे चूमा और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच में धकेल दिया और मुझे उसकी झांटों के बीच योनि के नंगे होंठ महसूस किये। मैंने मिली को एयरपोर्ट से घर के रास्ते के बीच में ही चोद दिया।



[Image: cars5.webp]
घर में मिली मुझे खींच कर अपने कमरे में ले गयी।अगले कुछ ही पलो में हम दोनों चुंबन करते हुए नग्न हो गए और बिस्तर में एक दुसरे के साथ गुथम गुथा हो गए। उसके बाद तय हुआ एमी के कौमार्य भंग करने का कार्यक्रम कल रात के लिए रखा गया और आज रात मैं लिली और मिली को समर्पित की जायेगी।

[Image: BEF1.webp]
अंत में जब तय समय हो गया तो मैं उठा और मिली के कमरे में गया और फिर मिली, लिली और एमी को चुंबन किया। फिर नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया। फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया और मैंने उसकी पीली नीली पोशाक की टॉप को उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके स्तनों को पकड़ लिया और उन्हें सहलाने लगा।उसकी गर्म गुलाबी योनि को बहुत सहलाया और उसका सौंदर्य निरिक्षण किया और सपना को उसके स्थान की तरफ जाते हुए मैंने उसके नितम्बो के गालों को बारी-बारी से तनावग्रस्त और ढीले होते हुए देखा।

[Image: SEMI8.jpg]
उसके बाद हुमा चुनी गयी और मैंने उसके पकडे निकाले और चुकी वो मुझ से झगड़ कर और नाराज होकर चली गयी तो मुझे लगा उसे दण्डित किया जानना चाहिए।

अब आगे:-

हुमा माफ़ी मांगने लगी तो लिली बोली नहीं हुमा आपको माफ़ी इतनी आसानी से नहीं मिलेगी इसके लिए आपको साबित करना होगा की आप मास्टर से अपने बर्ताव के लिए शर्मिंदा हैं और अब उनकी आज्ञाकारी हैं आप सबसे पहले घुटनो के बल होकर मास्टर से माफ़ी मांगो

हुमा हो लग रहा था कि बेंत के मार के सामने ये सजा बहुत कम है। हुमा तुरंत घुटनो के बल हो गयी तो सपना बोली अब ऐसे ही घुटनो के बल चलते हुए मास्टर के पास जाओ और उनसे माफ़ी मांगो.


[Image: 1u.jpg]

हुमा ने अपने हाथ जोड़े और घुटनो के बल धीरे-धीरे चलती हुई मेरे पास आयी तो डेज़ी बोली अब मास्टर के हाथ चूमो और पैर चाटो तो हुमा ने मुँह आगे किया और मेरे हाथ चाटे और फिर मेरे पैर। चाटने लगी । मुझे भी अब मजा आने लगा ये तो मेरी सोची हुई सजा से भी बेहतर था ।

फिर शबनम बोली अब हुमा आप अपने स्तनों को मरोडो और निप्पलों को खींचो और मास्टर के सामने पेश कर उन्हें मसलने और खींचने के लिए प्राथना करो ।

[Image: 09.jpg]
download facebook logo image

तो हुमा उसकी बात का पालन करते हुए अपने स्तनों को दबाने लगी और अपने निप्पलों को मसलने लगी तो उसके स्तन उत्तेजना में खड़े हो गए और फिर खींच कर मेरे सामने पेश कर बोली मास्टर। प्लीज इन्हे मसलन और खींच कर मुझे सजा दीजिये और प्लीज मुझे माफ़ कर दो

डेज़ी ने हुमा को बोला इन्हे खींच कर मास्टर के मुँह में डालो और फिर मैंने उसके निप्पल को हलके से दांतो से कुत्रा तो हुमा कराहने लगी और बोली आअह्ह्ह मास्टर प्लीज अब मुझे माफ़ कर दो । अब फिर कभी आपको अवज्ञा नहीं करुँगी ।

एमी बोली हुमा आप मास्टर को किश कर मास्टर के हाथ अपने स्तनों पर ले जाएये और मास्टर आप इनके स्तन और फिर नितम्बो को दबाइये हुमा मेरे हाथ अपने स्तनों पर ले गयी और मुझे किस करने लगी और फिर मेरे दुसरे हाथ को अपने नितम्बिओ पर ले गयी और फिर हमने किस की और मैंने उसके स्तन और नितम्ब दबाये और जब हम सांस लेने को रुके तो ।

[Image: 60-kis-legs.gif]
"अब हुमा फिर से घुटनो के बल बैठो और-और उन्हें और सब लड़कियों के पैरो को चूमो और उन्हें धन्यवाद दो की उन्होंने आपको सजा दी है," मिली ने निर्देश दिया।

अब तक हुमा सब की बात बिना किसी विरोध के मानने लग गयी थी और वह झुकी और मेरे पैरो को चाटा और मुझे बोली मास्टर मुझे सजा देने के लिए आपका धन्यवाद । इससे मुझे मेरा व्यवहार सुधारने में सहायता मिलेगी और आप मुझे माफ़ कर दीजिये और फिर सब लड़कियों के पैरो को चूमा और उन्हें धन्यवाद बोला फिर मेरे पास आयी।

जारी रहेगी
Reply
08-20-2023, 05:48 PM,
#95
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र

चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -21 B

  सजा.

हुमा माफ़ी मांगने लगी तो लिली बोली नहीं हुमा आपको माफ़ी इतनी आसानी से नहीं मिलेगी इसके लिए आपको साबित करना होगा की आप मास्टर से अपने बर्ताव के लिए शर्मिंदा हैं और अब उनकी आज्ञाकारी हैं आप सबसे पहले घुटनो के बल होकर मास्टर से माफ़ी मांगो

हुमा हो लग रहा था कि बेंत के मार के सामने ये सजा बहुत कम है। हुमा तुरंत घुटनो के बल हो गयी तो सपना बोली अब ऐसे ही घुटनो के बल चलते हुए मास्टर के पास जाओ और उनसे माफ़ी मांगो.


[Image: 1u.jpg]

हुमा ने अपने हाथ जोड़े और घुटनो के बल धीरे-धीरे चलती हुई मेरे पास आयी तो डेज़ी बोली अब मास्टर के हाथ चूमो और पैर चाटो तो हुमा ने मुँह आगे किया और मेरे हाथ चाटे और फिर मेरे पैर। चाटने लगी । मुझे भी अब मजा आने लगा ये तो मेरी सोची हुई सजा से भी बेहतर था ।

फिर शबनम बोली अब हुमा आप अपने स्तनों को मरोडो और निप्पलों को खींचो और मास्टर के सामने पेश कर उन्हें मसलने और खींचने के लिए प्राथना करो ।

[Image: 09.jpg]
download facebook logo image

तो हुमा उसकी बात का पालन करते हुए अपने स्तनों को दबाने लगी और अपने निप्पलों को मसलने लगी तो उसके स्तन उत्तेजना में खड़े हो गए और फिर खींच कर मेरे सामने पेश कर बोली मास्टर। प्लीज इन्हे मसलन और खींच कर मुझे सजा दीजिये और प्लीज मुझे माफ़ कर दो

डेज़ी ने हुमा को बोला इन्हे खींच कर मास्टर के मुँह में डालो और फिर मैंने उसके निप्पल को हलके से दांतो से कुत्रा तो हुमा कराहने लगी और बोली आअह्ह्ह मास्टर प्लीज अब मुझे माफ़ कर दो । अब फिर कभी आपको अवज्ञा नहीं करुँगी ।

एमी बोली हुमा आप मास्टर को किश कर मास्टर के हाथ अपने स्तनों पर ले जाएये और मास्टर आप इनके स्तन और फिर नितम्बो को दबाइये हुमा मेरे हाथ अपने स्तनों पर ले गयी और मुझे किस करने लगी और फिर मेरे दुसरे हाथ को अपने नितम्बिओ पर ले गयी और फिर हमने किस की और मैंने उसके स्तन और नितम्ब दबाये और जब हम सांस लेने को रुके तो ।

[Image: 60-kis-legs.gif]
"अब हुमा फिर से घुटनो के बल बैठो और-और उन्हें और सब लड़कियों के पैरो को चूमो और उन्हें धन्यवाद दो की उन्होंने आपको सजा दी है," मिली ने निर्देश दिया।

अब तक हुमा सब की बात बिना किसी विरोध के मानने लग गयी थी और वह झुकी और मेरे पैरो को चाटा और मुझे बोली मास्टर मुझे सजा देने के लिए आपका धन्यवाद । इससे मुझे मेरा व्यवहार सुधारने में सहायता मिलेगी और आप मुझे माफ़ कर दीजिये और फिर सब लड़कियों के पैरो को चूमा और उन्हें धन्यवाद बोला फिर मेरे पास आयी।

मिली बोली हुमा तुमने जितना तुमने अपराध किया है उसके लिए इतनी सजा काफी नहीं है तुमने न केवल मास्टर की अवज्ञा की है बल्कि उनसे लड़ाई भी की है, उन्हें दुःख पहुँचाया है परेशान किया है और फिर बिना उनकी आज्ञा के उनको छोड़ कर चली गयी थी इसलिए तुम्हे अभी और सजा मिलनी चाहिए जाओ अब मास्टर के घुटनो पर पेट के बल लेट जाओ



[Image: 21-ASS.gif]
fb pic

मैं बैठ गया और मिली ने हुमा को मेरी गोद में नीचे की ओर मुंह करके लेटने का इशारा किया।

हुमा रुआँसी हो गयी थी, हुमा ने मोज़े और जूतों के अलावा कुछ भी नहीं पहना हुआ था। किसी भी लड़की ने अब एक शब्द भी नहीं कहा । निराशा और डर के साथ-साथ हुमा को उसकी सबसे बड़ी शर्मिंदगी के साथ अपनी सभी गलतियों का पता चला और हुमा ने अपनी गलतियों को स्वीकार किया इसलिए वह उसने बेंत को मुँह से उठाया और मेरे पास आकर बोली मास्टर अब मैं आपसे याचना करती हूँ की आप मुझे इस बेंत से सजा दीजिये।

मैंने बेंत पकड़ी और फिर अपना शर्मिंदा चेहरा छिपाने के लिए बहुत उत्सुक हुमा तुरंत मेरे घुटनों पर नीचे मुँह करके लेट गयी।

हुमा का चेहरा बहुत प्यारा थाl, जब वह मुस्कुराती थी तो गालो में डिंपल पड़ते थे जिससे उसकी खूबसूरती में भी चार चाँद लग जाते थे। उसकी भी छोटी-योनि थी जिसपे हलके-हलके रुए थे जो नरम और सुनहरे रंग के थेl




[Image: ASS-SPANK.gif]


जैसे ही हुमा मेरे अपने घुटनों के ऊपर सही ढंग से लेटी और मुझे उसके शानदार नग्न पिछवाड़े के आकर्षणों का दीदार प्रदान किया।, मैंने उसके पीछे के हिस्से और नितम्बो पर देखा तो मैं उसकी चिकनी गांड और नितम्बो पर मोहित हो गया और उन्हें पहले सहलाया और फिर उसके नंगे नितम्बो पर-पर चुटकी काटी जिससे उसे दर्द हुआ और वह दर्द से आह-आह करती हुई कराहने लगी। छड़ी मेरे हाथो से नीचे गिर गयी ।
हुमा के बदन पर सर और आँखों की पलकों और भोहों को छोड़ कर बाल का नाम और निशाँ नहीं था हुमा की बिलकुल चिकनी और दाग रहित त्वचा थी जिसे सहलाने और चुने भर से मेरा तना हुआ हथियार हिचकोले खाने लगा और फुफकारने लगा ।

हुमा अपनी-अपनी पूर्ण नग्न अवस्था के कारण शर्मसार थी ऊपर से सभी लड़कियों के सामने उसे सजा दी जा रही थी जो की उसके लिए अपमानजनक भी था परन्तु गलती उसी की थी । इसलिए उसका बदन शर्म और आशंका से कांप रहा था और लाल हो चला था ।

[Image: 21-ASS1.webp]

उसकी चिकनी और मखमली गांड और गोल नितम्ब मेरे सामने थे । उसके बाद, मैंने उसकी मखमली चिकनी जांघो को धीरे से सहलाया और उसके नितम्बो को दृढ़ता और गोल रूपरेखा को महसूस किया।

और उसकी गांड के छोटे से गुलाबी छेद को देख मैंने अपने ऊँगली उसकी अंदर घुसाई तो वह बहुत टाइट था और ऊँगली अंदर नहीं घुस पायी और हुमा कराहने लगी । फिर मेरा हाथ उसके योनि के निचले हिस्से और गांड के छेद के बीच गया और मैंने वहाँ कुछ देर अपनी उंगलिया चलाई और फिर मेरा हाथ उसके नीचे से दिख रही बाल रहित योनि पर चला गया। उसके गोल नितंब चिकनी और टाइट गांड और मेरी द्वारा चुद चुकी बाल रहित योनी सब मेरी आसान पहुँच के भीतर थी और वह गुलाबी और प्यारी लग रही थी कि उसे मैं उसे सहलाने के लिए अपना हाथ उसके निचले अंगो पर घुमाते हुए उसकी नाभि और कमर तक ले गया। मेरा हाथ जब भी उसकी किसी नए अंग को छूता था वह कराहने लगती थी और मेरा लंड कसमसाने लगता था ।

उसके नीचे की खूबसूरत गोल गुलाबी गोल नितम्बो बीच में उसकी नाजुक गांड बेहद सुंदर लग रही थी। उस तनावपूर्ण मुद्रा और हलात में हुमा आगे को झुकी हुई अपना निचला पिछले भाग मुझे प्रदर्शित कर रही थी। उसकी गुदा का छोटा-सा गुलाबी छेद और उसकी बाल रहित छोटे-छोटे नरम रोयों वाली छोटी से तंग छेद वाली योनि को कोमल कली उसकी, कोमल घाटी के तल पर स्थित किसी भी तरह से इस्तेमाल करने के लिए मेरी थी और अब मेरे को समर्पित थी ।


[Image: 21-ASS0.webp]
जब मेरे हाथ उसकी चिकनी गांड पर गए थे तो बार-बार फिसल रहे थे। जब मैं उसके नितम्बो और गांड के निरीक्षण को और लंबा नहीं कर सका, तो मैंने उसके नितम्बो, गांड, योनि, टांगो कमर और पीठ को और जांघों को प्रशंसा पूर्वक सहलाते हुए हुमा को खड़े होने की आज्ञा दी। वह बोल रही थी वह प्लीज मसस्टर मुझे माफ़ कर दो और अब मेरी हर आज्ञा मानेगी तो मैंने उसकी आज्ञाकारिता को आजमाने का फैसला किया और बोला हुमा बोलो हुमा तुम ही बताओ अब तुम्हे अब क्या सजा मिलनी चाहिए क्योंकि अभी तुम्हारी सजा पूरी नहीं हुुइ है ।

[Image: 21STICK.gif]
हुमा नीचे झुकी और अपने मुँह में छड़ी उठायी और मुँह मेरी तरफ घुमा दिया और बोली मास्टर आप जो सजा दोगो मुझे मंजूर है और मेरे सामने झुक गयी और अपने हाथों से अपने टखनों को छूआ और अपना पिछवाड़ा सजा के लिए प्रस्तुत कर दिया। मैंने सब लड़कियों को और देखा, सब दरी हुई थी और चुप थी और अब मैंने अपना हाथ जिसमे वह छड़ी थी ऊपर उठाया तो रोजी बोल उठी मास्टर! कृपया रुकिए! मेरे निवेदन पर आप हुमा को इस बार क्षमा कर दे ये इसकी पहली भूल है और हुमा को अपने भूल का आभास हो गया है और उसने आपसे माफ़ी भी मांग ली है आप बहुत दयालु है और आपको हुमा बहुत प्यारी भी है । कृपया मेरे अनुरोध पर आप उसे उसके इस पहले अपराध पर अब क्षमा कर दे।

[Image: 21-SLAPS.gif]
image upload search mobile



रोजी के इस प्रस्ताव का सबसे पहले एमी ने अनुमोदन किया और बोली दीपक आप मेरा भी अनुरोध मानिये और इसे अब क्षमा कर दीजिये । । इसके तुरंत बाद सभी लड़किया जो पहले चुप थी अब सब एक सुर में बोली मास्टर अब आप हुमा को क्षमा कर दीजिये । मैंने मिली से पुछा आपकी क्या राय है, मिली?

तो वह बोली हम सब आपके गुस्से को देख डरी हुई थी परन्तु अब सबने थोड़ा साहस जुटा लिया है और आपसे प्राथना है उसे इस बार क्षमा कर दीजिये ।

तो मैंने हुमा से पुछा हुमा तुम्हारी अब क्या इच्छा है तो हुमा बोली मास्टर आप मुझे थोड़ी-सी सजा आवश्य दीजिये ताकि मैं अपना ये सबक याद रखूँ और कभी कोई गलती न करूँ ।

[Image: 21-SPANK1.gif]
तो मैंने रोजी से कहा रोजी ये आपका प्रस्ताव था की इसे क्षमा कर दिया जाए और हुमा चाहती है उसी थोड़ी-सी सजा जरूर दी जाए । तो मुझे लगता है इसे थोड़ी सजा मुझ से जरूर मिलनी चाहिए और उसकी गांड पर मैंने बहुत हलके हाथ से एक प्यार भरी चपत लगा कर मैं मुस्कुरा दिया और हुमा को पकड़ आकर अपने और खींच लिया और उसे चुंबन करते हुए उसके स्तन दबा कर बोला अब कभी मुझे ऐसे मत सताना ।

अब मुझसे हुमा सपना और मिली का कोई शारीरिक रहस्य नहीं बचा था। मैं इस दौरान अपनी भावनाओं का वर्णन नहीं कर सकता मेरा लंड बहुत उग्र था।

"हुमा बहुत ही सुन्दर और प्यारी युवती है। मैंने अंत में घोषणा की, उसके नंगे कंधे पर अपना हाथ रखते हुए, मैंने मिलि की ओर रुख किया। हुमा चिकित्सा और कलात्मक दोनों दृष्टिकोण से बिल्कुल सही सुंदर और प्यारी है। एक प्रेमी के रूप में, मैंने कई नग्न युवतियों को देखा है, लेकिन हुमा जैसी कोई नहीं है। मुझे यकीन है कि आप सब को इस खेल में आनंद आ रहा है। फिर हुमा को चूमते हुए ठीक है, मेरी प्रिय, अब आप अपने स्थान पर खड़ी हो सकती हैं," मैंने हुमा से कहा.

जारी रहेगी
Reply
08-20-2023, 05:57 PM,
#96
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र

चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -22

मिली उस्ताद.


आपने "मेरे अंतरंग हमसफ़र चतुर्थ अध्याय भाग 21 में पढ़ा:
 
तो मैंने रोजी से कहा रोजी ये आपका प्रस्ताव था की इसे क्षमा कर दिया जाए और हुमा चाहती है उसी थोड़ी-सी सजा जरूर दी जाए । तो मुझे लगता है इसे थोड़ी सजा मुझ से जरूर मिलनी चाहिए और उसकी गांड पर मैंने बहुत हलके हाथ से एक प्यार भरी चपत लगा कर मैं मुस्कुरा दिया और हुमा को पकड़ आकर अपने और खींच लिया और उसे चुंबन करते हुए उसके स्तन दबा कर बोला अब कभी मुझे ऐसे मत सताना ।


[Image: 21-SLAP.gif]

अब मुझसे हुमा सपना और मिली का कोई शारीरिक रहस्य नहीं बचा था। मैं इस दौरान अपनी भावनाओं का वर्णन नहीं कर सकता मेरा लंड बहुत उग्र था।

"हुमा बहुत ही सुन्दर और प्यारी युवती है। मैंने अंत में घोषणा की, उसके नंगे कंधे पर अपना हाथ रखते हुए, मैंने मिलि की ओर रुख किया। हुमा चिकित्सा और कलात्मक दोनों दृष्टिकोण से बिल्कुल सही सुंदर और प्यारी है। एक प्रेमी के रूप में, मैंने कई नग्न युवतियों को देखा है, लेकिन हुमा जैसी कोई नहीं है। मुझे यकीन है कि आप सब को इस खेल में आनंद आ रहा है। फिर हुमा को चूमते हुए ठीक है, मेरी प्रिय, अब आप अपने स्थान पर खड़ी हो सकती हैं," मैंने हुमा से कहा।



[Image: 21-SPANK1.gif]
आपने मेरी कहानी "मेरे अंतरंग हमसफ़र  में अब तक पढ़ा:

मैं अपनी पत्नी प्रीती को अपनी अभी तक की अंतरंग हमसफर लड़कियों के साथ मैंने कैसे और कब सम्भोग किया। ये कहानी सुनाते हुए बता रहा था की, किस तरह मेरी फूफरी बहन की पक्की सहेली हुमा की पहली चुदाई जो की मेरे फूफेरे भाई टॉम के साथ होने वाली थी। टॉम को बुखार होने के बाद मेरे साथ तय हो गयी। फिर सब फूफेरे भाई, बहनो और हुमा की बहन रुखसाना तथा मेरी पुरानी चुदाई की साथिनों रूबी, मोना और टीना की मेरी और हुमा की पहली चुदाई को देखने की इच्छा पूरी करने के लिए सब लोग गुप्त तहखाने में बने हाल में ले जाए गए। मैं दुल्हन बनी खूबसूरत और कोमल मखमली जिस्म और संकरी चूत वाली हुमा ने अपना कौमर्य मुझे समर्पित कर दिया उसके बाद मैंने उसे सारी रात चोदा और यह मेरे द्वारा की गई सबसे आनंदभरी चुदाई थी। उसके बाद सब लोग घूमने मथुरा आगरा, भरतपुर और जयपुर चले गए और घर में एक हफ्ते के लिए केवल मैं, हुमा और रोज़ी रह गए। जाते हुए रुखसाना बोली दोनों भरपूर मजे करना। उसके बाद मैं और हुमा एक दूसर के ऊपर भूखे शेरो की तरह टूट पड़े और हुमा को मैंने पहले चोदा और फिर उसके बाद बहुत देर तक चूमते रहे।

[Image: 54-6.gif]
उसके बाद मैं फूफा जी के कुछ जरूरी कागज़ लेकर श्रीमती लिली से मिलने गया पर इस कारण से हुमा नाराज हो कर चली गयी । लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था। उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा, और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। मैंने लिली की जांघो और उसकी टांगो को चूमा और सहलाया फिर उसकी योनि के ओंठो को चूमा, चूसा और फिर मेरी जीभ ने उसके महीन कड़े भगशेफ की खोज की, मैंने उसे परमानंद में चूसा, और उसने मेरा मुँह अपने चुतरस से भर दिया।


[Image: enter.gif]
लिली ने लंड को पकड़ लंडमुड से भगनासा को दबाया और योनि के ओंठो पर रगड़ा और अपनी जांघो की फैलाते हुए योनि के प्रवेश द्वार पर लंड को लगाया और उसने अपने नितंबों को असाधारण तेज़ी और ऊर्जा के साथ ऊपर फेंक दिया। मेरा कठोर खड़ा हुआ लंड लिली की टाइट और कुंवारी चूत के छेद में घुस गया और मैंने लिली को आसन बदल कर भी चोदा। मैं पास के कमरे में गया वहां हुमा थीं। हम दोनों एक दूसरे की बांहो जकड़ कर जन्नत के आनंद का मज़ा लिए और मैंने ढेर सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ा।



[Image: sleep02.webp]
कुछ देर बाद पर्दा हटा कर मैंने लिली के कक्ष में झाँका और मैंने वहाँ बिस्तर पर गहरी नींद में सोई हुई प्यारी परम् सुंदरी लिली को देखा। मैं अपने उत्तेजित और झटकेदार उपकरण के सिर और बिंदु को उसके निचले आधे हिस्से के बिल्कुल सामने ले आया और फिर मैंने एक झटके में ही लंड मुंड को अंदर कर दिया! मेरा लंड एक बार फिर झड़ने के बाद कठोर ही रहा और उसे देख लिली थोड़ा आश्चर्यचकित हुई और मैंने उसने अपने ऊपर आने के लिए उत्साहित किया। हुमा भी घण्टे की आवाज़ से जग गयी थी और मुझे ढूँढते हुए लिली के कमरे में पता नहीं कब आ गयी थी लिली की चुदाई देखने के बाद हुमा भी मेरे साथ चिपक गयी। फिर मैंने हुमा और लिली की रात भर चुदाई की। अगले दिन लिली बोली अब तुम्हे मेरी दोनों बहने भी चाहती हैं और तुम्हे उन्हें भी चोदना होगा। दीपक मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरी बहनें मिली सबसे बेहतरीन महिला हैं और एमी बहुत कमसिन है। मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रखते हुए उत्तर दिया मैं अपने आप को पूरी तरह से आपको समर्पित करता हूँ और आपकी सेवा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा और हमने उसकी कार से हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान किया।'


[Image: car1.gif]
upload pic

कार में मैं मिली की बगल में बैठा उसे निहार रहा था और यह वास्तव में बहुत सुंदर थी, मैंने उसकी पतली कमर ने अपनी बाहों डाल कर उसे कसकर गले से लगा लिया, उसे चूमा और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच में धकेल दिया और मुझे उसकी झांटों के बीच योनि के नंगे होंठ महसूस किये। मैंने मिली को एयरपोर्ट से घर के रास्ते के बीच में ही चोद दिया।

घर में मिली मुझे खींच कर अपने कमरे में ले गयी।अगले कुछ ही पलो में हम दोनों चुंबन करते हुए नग्न हो गए और बिस्तर में एक दुसरे के साथ गुथम गुथा हो गए। उसके बाद तय हुआ एमी के कौमार्य भंग करने का कार्यक्रम कल रात के लिए रखा गया और आज रात मैं लिली और मिली को समर्पित की जायेगी।

अंत में जब तय समय हो गया तो मैं उठा और मिली के कमरे में गया और फिर मिली, लिली और एमी को चुंबन किया। फिर नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया। फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया और मैंने उसकी पीली नीली पोशाक की टॉप को उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके स्तनों को पकड़ लिया और उन्हें सहलाने लगा।उसकी गर्म गुलाबी योनि को बहुत सहलाया और उसका सौंदर्य निरिक्षण किया और सपना को उसके स्थान की तरफ जाते हुए मैंने उसके नितम्बो के गालों को बारी-बारी से तनावग्रस्त और ढीले होते हुए देखा।



[Image: SR13.jpg]
उसके बाद हुमा चुनी गयी और मैंने उसके पकडे निकाले और चुकी वो मुझ से झगड़ कर और नाराज होकर चली गयी तो मुझे लगा उसे दण्डित किया जानना चाहिए। मैंने हुमा को हलकी से सजा दी और उसे माफ़ कर दिया।

अब आगे:-

मैंने लिली की तरफ देखा और मेरी गोरी मेजबान वैसा ही पारदर्शी गुलाबी गाउन पहने हुई थी, जिसमे मैंने उसे पहली बार देखा था जो ऊपर से खुला था, जिससे उसकी आकर्षक दूधिया छाती के ऊपरी भाग प्रदर्शित हो रहे थे वह केवल पेट के पास एक डोरी से बंधा हुआ था और उसकी गोरी लम्बी और चिकनी टाँगे जिनमे उसने खूबसूरत ऊँची ऐडी की सैंडल पहन रखी थी। उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था।

उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। यह वास्तव में बहुत सुंदर थी और उस समय मेरे सामने अर्ध-नग्न थी और थोड़ा शर्मा रही थी। उसके गोरे गाल शर्म से लाल हो चमक रहे थे, उसके प्यारे चमकदार कंधे और उसकी उत्तम छाती लगभग पूरी तरह से नग्न थी!


[Image: 57-1.gif]
अपना हाथ आगे बढ़ा कर मिली ने लिली को अपने पास बुलाया तो लिली ने मिली का हाथ थोड़ा ऊपर किया तो उसकी गाउन उसकी छाती से थोड़ी दूर एक तरफ गिर गई और अब वह ऊपर से लगभग पूरी तरह से नंगी थी और उसके हाथीदांत के दो सबसे उत्कृष्ट गोल, पूर्ण और पॉलिश किए हुए सफ़ेद संगेमरमर के गोल स्तन दिखने लगे, बल्कि उस संगेमरमर के ऊपर सजा हुआ गुलाबी मूंगा भी बाहर निकल आया, जो उनमें से प्रत्येक को सुशोभित कर रहा था।

वह पूर्ण अंडाकार सुंदर चेहरे के साथ स्त्री सौंदर्य की एक आदर्श आकृति थी! गुलाब के फूल जैसा मुँह और चेरी जैसे होंठ, छोटे-छोटे कान, उत्तम गोल चमकदार कंधे, पूर्ण और सुंदर भुजाएँ, लहराती हुई उत्तम छाती, गोल सुदृढ़ और मोठे स्तन जिन्हे सहलाने और धीरे से दबाने का सौभाग्य एक बार फिर प्राप्त करने के लिए व्याकुल हो गया।
'लिली, अब तुम्हारी बारी है!' मैंने कहा; 'प्रिय अपने वस्त्र निकालो और सबके सामने अपनी सुंदरता का नग्न प्रदर्शन करो । एमी उसकी नाइटी को उतारने में उसकी मदद करें!' उसके सुंदर स्तन गोल, मोटे और मज़बूत दिखने वाले थे। एक क्षण में लिली के गाउन की डोरी एमी ने खोली और लिली की जाँघों थोड़ी अलग हो गयी और उसकी गाउन उनके बीच गिर गई और वह अब सबके सामने नग्न खड़ी थी, मैं उसके प्यारे, प्यारे चुलबुले स्तनों को अपने कब्जे में लेना चाहता था ताकि मैं उन्हें अपने हाथ में के कर दबाने के बाद, उन्हें और उनके गुलाबी चुचकों को मेरे मुंह से चूसूं! और उसने अपने स्तनों की गोलाई और सुंदर रूप को मुझे पूरी तरह से दिखाया, जिससे मेरी कामोतेजना और उसे पाने की इच्छा और अधिक भड़क गयी। मिली जानती थी लिली मुझे उत्तेजित कर रही है, क्योंकि वह मेरे उत्तेजित हृदय की धड़कन को मेरे तेज साँसों से महसूस कर रही थी। पतली लिली कामुकता का एक सुंदर दृश्य पेश कर रही थी। मेरे और उसकी बड़ी बहन मिली के लिए यह दृश्य परिचित था, लेकिन बाकी लड़कियों और एमी के लिए यह एक रहस्योद्घाटन था जिसके कारण प्रशंसा के लिए शब्द नहीं ढूँढ पा रही थी।



एमी की टूटी हुई सांस ने मुझे बताया कि उसकी बहन की नग्न सुंदरता की दृष्टि उसे कितना प्रभावित कर रही थी, जबकि बाकी लड़कियों बस निर्विवाद आनंद से रोमांचित थी, उनकी आँखें लगभग आश्चर्यजनक रूप से सुनहरे बालों के शानदार धन पर टिकी हुई थीं जो कि लिली के शुक्र पर्वत पर बढ़ीं और उसकी योनी को आश्रय दिया। । हमने लिली को धीरे-धीरे घुमाया, जैसा कि उसकी बहन ने किया था, उसकी आकर्षक कोमलता के तमाशे में आनंदित होना; और जब उसने फिर से हमारा सामना किया, उसके गाल लाल हो गए, मैंने चुपके से मिली की आंखों को देखा क्योंकि वे अपनी बहन के स्वेच्छा से नग्न शरीर, उसके स्वादिष्ट स्तनों और उसके सुनहरे बालों वाली योनी पर घूमते थे।

कामोतेजना के कारण मैं अपने ओंठो पर जीभ फेर रहा था और मिली मेरे को देख कर शायद समझ गयी की मेरे को प्यास लगी है। बोली पानी चाहिए आपको मेने कहा हाँ। ठीक है अभी लाती हूँ कह कर लिली पलट कर पानी लेने चल दी। जैसे ही वह पल्टी सबसे पहले मेरी नजर उसके भारी भरकम चूतडो पर गयी। लिली के चूतड शानदार, कूल्हों चौड़े और बडे थे। उसने ऊँची ऐडी की सैंडल पहन रखी थी। जिस की वजह से जब वह चल रही थी तो उसके चुतड बहुत ही मस्ताने ठंग से मटक रहे थे और ज्यादा बड़े लग रहे थे।

एक तो उसको आगे से देख कर ही मेरा बुरा हाल था अब तो मैंने उसको पीछे से भी देखा लिया था मेरा लंड तो बिलकुल ही आपे से बाहर हो गया। वोह भी शायद जानती थी की उसके चूतडो का मुझ पर क्या असर होगा क्योकी लिली को पता था कि भारी चूतड मुझ को कितने पसन्द हैं। इसलिये मेज तक जाने में जहाँ पर पानी का जग रखा था उसने बहुत देर लगायी जिस से मैं जी भर कर उसके चूतड और उनका मटकना देख सकूं।

फिर उसने जग उठाया और मेरी तरफ़ देखते हुये और मटक कर उसने गिलास में पानी भरना शुरु किया। वह मुझ को देख कर मस्ती भरी नजरो से मुस्कुरा रही थी। पानी भरकर वह मेरी तरफ़ चल दी। उसने ऊँची ऐडी के सैंडल पहन रखे थे और जिस तरह से वह चूतड मटका के चल रही थी उसकी वजह से उसके बडे-बडे मम्मे जोर-जोर से उछल रहे थे।

मिली ने लिली से पानी का गिलास पकड़ा और मुझे पानी पिलाने लगी और पानी पीला कर गिलास उसको दे दिया। मैंने उसका हाथ अपने हाथो में लिया और बोला लिली तुम तो सेक्सी हो। मेरा लंड अब पुरी तरह टनटनाया हुआ है और पैन्ट फाड कर बाहर आने को तैयार है।

फिर मिली ने मेरा कुरता उतारा और अपनी एक उँगली को अपने थूक से गिला करके मेरे बाँये निप्पल पर फिराने लगी और उसका दुसरा हाथ मेरी छाती पर धीरे-धीरे चल रहा था। वह मुझे मस्त कर रही थी। थोडी देर इसी तरह से मेरे निप्पल पर हाथ फेरने के बाद उसने अपना मुँह मेरे निप्पल पर रख दिया और उसे अपने होंठो के बीच लेकर चुसने लगी। उसके ऐसा करने से मेरे मुँह से एक दम से एक आह निकल गयी। इसका सीधा असर मेरे लंड पर हुआ। वोह मस्ती में एक दम कडा को गया। अब उसका मेरी पैन्ट में रहना बडा ही मुश्किल था।

फिर मेरे दुसरे निप्पल को अपने हाथ के नाखून से जोर-जोर से कुरेद रही थी। एक तो निप्पल चुसे जाने की मस्ती दूसरा निप्पल कुरेदे जाने की वजह से होता दर्द ने मुझे तो स्वर्ग में पहुँचा दिया था। इस बेइन्तेआह मस्ती के कारण मेरे मुँह से आह! ओह! के आवाज निकल रही थी। मैने अपने हाथ उसकी पीठ और एक बाँह पर रख रखा था। एक हाथ से उसकी बाँह मसल रहा था और दुसरे हाथ उसकी पीठ और कमर पर फेर रहा था। वोह करीब 3-4 मिनट तक ऐसे ही करती रही फिर पर्ल बाँयी निप्पल छोड कर दाँयी निप्पल को चुसने लगी और बाँयी निप्पल को नाखुनो से कुरेदने लगी।

दुसरे निप्पल को अच्छी तरह से चुसने के बाद ही उसने मेरे को छोडा। फिर मिली ने मेरी और देख कर आँखो में आँखे डाल कर पूछा कैसा लगा निप्पल चुसवाना। मैं बोला क्या बताँऊ बस इतना कह सकता हूँ कि मुझे अभी बहुत कुछ सीखना है। लिली में बताया था आप सेक्स के मामले में उस्ताद हो । मैं आपको अपनी सेक्स गुरु बनाना चाहता हूँ। सीखाओगी गुरु जी। ये सुन कर उसने मेरे होंठो पर किस कर लिया और बोली तुम बिल्कुल मेरे सब्से सच्चे चेले कहलाने के लायक हो वैसे तो तुम्हे बहुत कुछ आता है और तुम हीरे के जैसे हो पर थोड़ी-सी पोलिश से सेक्स में निखर जाओगे। मिली बोली जरूर सिखाऊंगी और फिर कैसाउस्ताद अगर उसका कोई चेला ही ना ही और फिर आखिर उस्ताद होती किस लिये है।

मैंने कहा उस्ताद इसमें प्रैक्टिकल भी होंगे?

उस्ताद का तो ये फर्ज है के उसके चेले को पूरी शिक्षा दे प्रेक्टिकल के साथ जिससे की कोई ये ना कह सके की उसको कुछ भी नहीं आता है। अब मैं तुम्हारी सेक्स उस्ताद बनूंगी तो ये फर्ज जरूर पूरा करुँगी। मिली बोली।



[Image: 50-1.webp]
उसके मुहँ से ये बात सुन कर मैं बोला गुरु जी आपके विचार कितने उत्तम हैं।

तो दोस्तों कहानी जारी रहेगी। आगे क्या हुआ? ये अगले भाग में पढ़िए।

आपका दीपक


[Image: back-kis.gif]
Reply
09-03-2023, 05:37 AM,
#97
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र


चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -23

मिली ने दिया पहला सेक्स ज्ञान.

 मेरे अंतरंग हमसफ़र, चतुर्थ अध्याय भाग 23 में पढ़ा:

दुसरे निप्पल को अच्छी तरह से चुसने के बाद ही मिली ने मेरे को छोडा। फिर मिली ने मेरी और देख कर आँखो में आँखे डाल कर पूछा कैसा लगा निप्पल चुसवाना। मैं बोला क्या बताँऊ बस इतना कह सकता हूँ कि मुझे अभी बहुत कुछ सीखना है। लिली में बताया था आप सेक्स के मामले में उस्ताद हो । मैं आपको अपनी सेक्स गुरु बनाना चाहता हूँ। सीखाओगी गुरु जी। ये सुन कर उसने मेरे होंठो पर किस कर लिया और बोली तुम बिल्कुल मेरे सब्से सच्चे चेले कहलाने के लायक हो वैसे तो तुम्हे बहुत कुछ आता है और तुम हीरे के जैसे हो पर थोड़ी-सी पोलिश से सेक्स में निखर जाओगे। मिली बोली जरूर सिखाऊंगी और फिर कैसाउस्ताद अगर उसका कोई चेला ही ना ही और फिर आखिर उस्ताद होती किस लिये है।

मैंने कहा उस्ताद इसमें प्रैक्टिकल भी होंगे?

उस्ताद का तो ये फर्ज है के उसके चेले को पूरी शिक्षा दे प्रेक्टिकल के साथ जिससे की कोई ये ना कह सके की उसको कुछ भी नहीं आता है। अब मैं तुम्हारी सेक्स उस्ताद बनूंगी तो ये फर्ज जरूर पूरा करुँगी। मिली बोली।

उसके मुहँ से ये बात सुन कर मैं बोला गुरु जी आपके विचार कितने उत्तम हैं।

आपने मेरी कहानी " मेरे अंतरंग हमसफ़र" में अब तक पढ़ा:

मैं अपनी पत्नी प्रीती को अपनी अभी तक की अंतरंग हमसफर लड़कियों के साथ मैंने कैसे और कब सम्भोग किया। ये कहानी सुनाते हुए बता रहा था की, किस तरह मेरी फूफरी बहन की पक्की सहेली हुमा की पहली चुदाई जो की मेरे फूफेरे भाई टॉम के साथ होने वाली थी। टॉम को बुखार होने के बाद मेरे साथ तय हो गयी। फिर सब फूफेरे भाई, बहनो और हुमा की बहन रुखसाना तथा मेरी पुरानी चुदाई की साथिनों रूबी, मोना और टीना की मेरी और हुमा की पहली चुदाई को देखने की इच्छा पूरी करने के लिए सब लोग गुप्त तहखाने में बने हाल में ले जाए गए। मैं दुल्हन बनी खूबसूरत और कोमल मखमली जिस्म और संकरी चूत वाली हुमा ने अपना कौमर्य मुझे समर्पित कर दिया उसके बाद मैंने उसे सारी रात चोदा और यह मेरे द्वारा की गई सबसे आनंदभरी चुदाई थी। उसके बाद सब लोग घूमने मथुरा आगरा, भरतपुर और जयपुर चले गए और घर में एक हफ्ते के लिए केवल मैं, हुमा और रोज़ी रह गए। जाते हुए रुखसाना बोली दोनों भरपूर मजे करना। उसके बाद मैं और हुमा एक दूसर के ऊपर भूखे शेरो की तरह टूट पड़े और हुमा को मैंने पहले चोदा और फिर उसके बाद बहुत देर तक चूमते रहे।


[Image: mis1.gif]

उसके बाद मैं फूफा जी के कुछ जरूरी कागज़ लेकर श्रीमती लिली से मिलने गया पर इस कारण से हुमा नाराज हो कर चली गयी । लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था। उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा, और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। मैंने लिली की जांघो और उसकी टांगो को चूमा और सहलाया फिर उसकी योनि के ओंठो को चूमा, चूसा और फिर मेरी जीभ ने उसके महीन कड़े भगशेफ की खोज की, मैंने उसे परमानंद में चूसा, और उसने मेरा मुँह अपने चुतरस से भर दिया।



[Image: LICK-1Z1.gif]
लिली ने लंड को पकड़ लंडमुड से भगनासा को दबाया और योनि के ओंठो पर रगड़ा और अपनी जांघो की फैलाते हुए योनि के प्रवेश द्वार पर लंड को लगाया और उसने अपने नितंबों को असाधारण तेज़ी और ऊर्जा के साथ ऊपर फेंक दिया। मेरा कठोर खड़ा हुआ लंड लिली की टाइट और कुंवारी चूत के छेद में घुस गया और मैंने लिली को आसन बदल कर भी चोदा। मैं पास के कमरे में गया वहां हुमा थीं। हम दोनों एक दूसरे की बांहो जकड़ कर जन्नत के आनंद का मज़ा लिए और मैंने ढेर सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ा।


[Image: cum.gif]

कुछ देर बाद पर्दा हटा कर मैंने लिली के कक्ष में झाँका और मैंने वहाँ बिस्तर पर गहरी नींद में सोई हुई प्यारी परम् सुंदरी लिली को देखा। मैं अपने उत्तेजित और झटकेदार उपकरण के सिर और बिंदु को उसके निचले आधे हिस्से के बिल्कुल सामने ले आया और फिर मैंने एक झटके में ही लंड मुंड को अंदर कर दिया! मेरा लंड एक बार फिर झड़ने के बाद कठोर ही रहा और उसे देख लिली थोड़ा आश्चर्यचकित हुई और मैंने उसने अपने ऊपर आने के लिए उत्साहित किया। हुमा भी घण्टे की आवाज़ से जग गयी थी और मुझे ढूँढते हुए लिली के कमरे में पता नहीं कब आ गयी थी लिली की चुदाई देखने के बाद हुमा भी मेरे साथ चिपक गयी। फिर मैंने हुमा और लिली की रात भर चुदाई की। अगले दिन लिली बोली अब तुम्हे मेरी दोनों बहने भी चाहती हैं और तुम्हे उन्हें भी चोदना होगा। दीपक मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरी बहनें मिली सबसे बेहतरीन महिला हैं और एमी बहुत कमसिन है। मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रखते हुए उत्तर दिया मैं अपने आप को पूरी तरह से आपको समर्पित करता हूँ और आपकी सेवा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा और हमने उसकी कार से हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान किया।'


[Image: CAR0.gif]

कार में मैं मिली की बगल में बैठा उसे निहार रहा था और यह वास्तव में बहुत सुंदर थी, मैंने उसकी पतली कमर ने अपनी बाहों डाल कर उसे कसकर गले से लगा लिया, उसे चूमा और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच में धकेल दिया और मुझे उसकी झांटों के बीच योनि के नंगे होंठ महसूस किये। मैंने मिली को एयरपोर्ट से घर के रास्ते के बीच में ही चोद दिया।

घर में मिली मुझे खींच कर अपने कमरे में ले गयी।अगले कुछ ही पलो में हम दोनों चुंबन करते हुए नग्न हो गए और बिस्तर में एक दुसरे के साथ गुथम गुथा हो गए। उसके बाद तय हुआ एमी के कौमार्य भंग करने का कार्यक्रम कल रात के लिए रखा गया और आज रात मैं लिली और मिली को समर्पित की जायेगी।


[Image: tf4.png]

अंत में जब तय समय हो गया तो मैं उठा और मिली के कमरे में गया और फिर मिली, लिली और एमी को चुंबन किया। फिर नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया। फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया और मैंने उसकी पीली नीली पोशाक की टॉप को उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके स्तनों को पकड़ लिया और उन्हें सहलाने लगा।उसकी गर्म गुलाबी योनि को बहुत सहलाया और उसका सौंदर्य निरिक्षण किया और सपना को उसके स्थान की तरफ जाते हुए मैंने उसके नितम्बो के गालों को बारी-बारी से तनावग्रस्त और ढीले होते हुए देखा।

उसके बाद हुमा चुनी गयी और मैंने उसके पकडे निकाले और चुकी वो मुझ से झगड़ कर और नाराज होकर चली गयी तो मुझे लगा उसे दण्डित किया जानना चाहिए। मैंने हुमा को हलकी से सजा दी और उसे माफ़ कर दिया।मिली ने अपने सेक्स ज्ञान का मुझे थोड़ा सा नमूना दिया तो मैंने उसे तुरंत अपना सेक्स गुरु बना लिया।

अब आगे:-

मैंने कमरे में चारो और देखा वह कक्ष बहुत बड़ा था और इसमें कई प्रकार के तकियों से सजा हुआ एक विशाल बिस्तर था। एक पूरी दीवार पर एक जंगल का दृश्य के रूप में चित्रित किया गया था जिसमें नग्न लड़किया और नग्न अप्सराओं झरनो और तालाब में स्नान कर रहे थे और झरने के बगल में घास के मैदान में एक बहुत सुंदर लड़की को एक युवक चोद रहा था और एक उतनी ही सुंदर लड़की तालब में पूल में उन्हें चुदाई करते हुए देख रही थी और कुछ लड़किया वहाँ उत्साह में नाच रही थी और कुछ लड़किया शराब और खाना परोस रही थी। यह कमरा जाहिर तौर पर निजी प्रकृति के मनोरंजन के लिए था।

मिली बोली दीपक आपका प्रक्षिक्षण अब शुरू हो रहा है और फिर मिली ने अपने होठं मेरे होठ से लगा दिये और एक किस ले लिया। फिर मिली ने अपने हाथ मेरी गर्दन के पीछे ले जाकर मेरा मुँह को अपनी तरफ खीचा और अपनी जीभ निकाल कर मेरे होंठो पर जीभ फिराने लगी। उसके थोडी देर इसी तरह से जीभ फिराने के बाद मैंने उसका निचला होंठ अपने होंठो के बीच पकड लिया और फिर उस पर जीभ फिराने लगा।



[Image: KIS1Z.gif]
मैं उसके होंठो को चुसने से पहले मैं गीला कर देना चाहता था। थोडी देर तक इसी तरह उसके होंठो को गिला करने के बाद मैने उसके होंठ चुसने शुरू कर दिये। मैं बहुत जोर-जोर से उसके होंठो को चूस रहा था। इस बीच लिली भी अपनी जीभ निकाल कर मेरे उपरी होंठ के उपर फिरा रही थी और साथ ही साथ अपना बहुत-सा थूक अपने नीचले होंठ के पास जमा कर रही थी जिस से मैं ज्यादा से ज्यादा उसके स्वादिष्ट थूक को पी सकूँ। मैं भी हर थोडी देर में नीचले होंठ को छोड कर उसका थूक अपनी जीभ की मदद से उसके होंठो पर मलने लगता और अच्छी तरह से मल कर फिर से उसके होंठ को चुसने लगता करीब 2 मिनट तक मैं ऐसा ही उसके साथ करता रहा।

फिर उसने मेरा निचला होंठ छोड कर मेरा उपरी होंठ अपने दोनों होंठो के बीच पकड लिया और उसको भी अपने थूक से गीला कर दिया। मिली ने भी मेरा नीचला होंठ अपने थूक से गिला कर दिया था। थोडी देर तक वह मेरे होंठ को गीला करती रही और-और मैं उसके ओंठ चुसता रहा फिर एक दम से मैंने अपनी जीभ को नुकीला कर के उसके दाँतों और होंठो के बीच डाल दी और उसके दाँतों पर फिराने लगा। वोह भी अपनी जीभ को नुकीली बना कर मेरे जीभ के नीचे गोल-गोल घुमाने लगी। जिससे उसकी जीभ से लार निकल कर मेरे मुहँ में गिरने लगी और मेरी जीभ के नीचे जमा होने लगी।



[Image: TOTA8.jpg]
थोडी देर इसी तरह से उसके दाँत और होंठ के बीच की और उसके जीभ से टपकती लार मेरे मुँह में जमा हो गयी। फिर मैंने मिली के होंठ मुँह में लेकर चूसने लगा तथा साथ ही साथ मुँह के अन्दर जमी स्वादिष्ट लार को भी मैं पी गया। ये लार मेरे लिये अमृत थी। फिर थोडी देर तक इसी तरह मैं उसका होंठ चुसता और लार पीता रहा। फिर मिली ने आखरी बार मेरे होंठो पर अपने होठ रखे और एक गहरा चुम्बन लेकर मेरे से अलग हो गयी। फिर मैंने पूछा मजा आया दीपक। 

तो मैं बोलै हाँ गुरूजी बहुत मजा आया।

तुम तो बहुत ही अच्छी किस करते हो दीपक। मैं तो सोच रही थी तुमको किस करने की भी ट्रेनिग देनी पडेगी लेकिन ऐसा लगता इसकी कोई जरूरत नहीं है। मैंने कहा ट्रेनिग कि जरूरत तो मुझे है क्योकि चाहे जितना भी अच्छा किस मैं करता हूँ पर तुमसे अच्छा तो नहीं कर सकता। मिली बोली वोह तो तुम ठीक ही कह रहे हो राजा! ठीक है मैं तुम को पुरी तरह ट्रेन कर दूँगी और लगता है तुम मेरा सारा अनुभव और ज्ञान लूट लोगों। फिर मिली बोली तुम्हारी मस्ती होंठ चूसायी के कारण बढ चुकी है।



[Image: kiss-deep.gif]
for annie poem meaning
मैं हैरान हुआ और मिली को प्रणाम कर बोलै गुरूजी ये आपकी कैसे पता चला की मेरी मस्ती बहुत बढ़ चुकी है? क्योंकि मेरे लंड का तनाव मस्ती से बहुत बढ़ चूका था

मिली बोली लुंगी में छुपा हुआ नाग बारी-बारी अपना सर उठा कर फुफकार रहा है उसी से मुझे पता लगा । सभी लड़किया हमे किश करते हुए देख कर गर्म हो रही थी और तभी मेरा ध्यान लिली की तरफ गया जो हमे किस करते हुए बड़ी गौर से देख रही थी ।

' मिली मेरे साथ बैठी हुई लिली के दिव्य रूप, सौन्दर्य, यौवन, चमक उत्साह को देख आसक्त लग रही थी।

क्या आपने लिली को इस तरह पहले नहीं देखा है? 'मैं मिली के कान में फुसफुसाया तो मिली शरमा गई।' नहीं! 'उसने धीरे से उत्तर दिया-' लिली छोटी थी जब मैंने उसे आखिरी बार पूरी नंगी देखा था-दीपक, उसे देख कर मुझे लगता है कि मुझे पुरुष होना चाहिए था, उसकी खातिर! '-और वह हसने लगी जबकि एमी जो हमारे पीछे खड़ी थी उसने भी मिली का हसी में साथ दिया।

'तब तो आप निश्चित रूप से इस समय मेरी संवेदनाओं को समझ पाती कर सकते हैं, प्रिय मिली!' मैंने उसके स्तनों से प्रेमपूर्वक खेलते हुए कहा।

'दीपक, जिस चीज पर मैं बैठी हुई थी मैं उसकी धड़कन और चुभन से अभी भी उन संवेदनाओं का अनुमान लगा सकती हूँ!' मिली ने जवाब दिया और उसने खुद को मेरे घुटनों पर दबाया और मुझ पर मुस्कुरा दी और दीपक अब आपको लिली के मिलवाना ही पड़ेगा।


[Image: sapna.jpg]

लिली जैसे खड़ी थी उसमे उसकी बाहें, एक आकर्षक स्थिति में मुड़ी हुई थीं, जो उसकी बगल के गड्ढे के नीचे बालों की हलकी-सी वृद्धि दिखा रही थी। उसकी छाती नग्न थी और उसके दो अनमोल नग्न स्तन, गोल और दृढ़, इतनी खूबसूरती से रखे हुए थे जैसे दो प्यालो को उलटे रखा गया हो और उनपर दो बड़े अंगूर लगा कर उन्हें सजाया गया हो और उसका पूरा शरीर उसकी पतली कमर तक पूरा नग्न था।

लिली के समतल पेट का साफ़ चौड़ा मैदान कर उसने कमर में सुंदर आकर्षक कमरघनी पहनी हुई थी जो उसकी नाभि के आरपार गुजर रही थी और फिर उसका शानदार योनि क्षेत्र था और उसके नीचे उसकी सुंदर चिकनी टाँगे सब बिलकुल आकर्षक और शानदार था! उसकी शानदार नग्नता को देखने के बाद कोई भी उसको प्राप्त करने के लिए उत्सुक हो जाता, लिली के कामुक आकर्षण के प्रदर्शन के बाद उसके निकट संपर्क का भड़काऊ प्रभाव और उसके स्तनों को संभालने से उत्पन्न उत्तेजना ने मुझे कामुक आग में झोक दिया था, मैंने इस समय छूने उसकी योनी को छूने की हिम्मत नहीं की। लुंगी के अंदर मेरा लंड लोहे की छड़ की तरह था और फुफकार रहा था।

मैंने अपने कंधे पर एमी को देखा। वह अभी भी लिली को गौर से देख रही थी और जाहिर तौर पर उसकी नग्न सुंदरता से बहुत उत्साहित थी। उसकी आँखें चमक रही थीं, उसके होंठ आंशिक रूप से खुले हुए थे, जबकि उसकी छाती धड़क रही थी और भारी हो गई थी। जिज्ञासा वह स्पष्ट रूप से उस पर हावी थी, जो कुछ समय के लिए उसके दब्बू स्वाभाव पर हावी हो गयी थी।

मिली ने मुझे देख मुस्कुरायी और मेरे को, लिली को एमी को और यह सुनाने के लिए जोर से फुसफुसायी लिली अब तुम दीपक के पास आ जाओ! लिली से सुन कर शरमा गई, लेकिन एमी क्रिमसन हो गई और उसने जल्दी से मेरी ओर देखा।



[Image: TOTA7.jpg]
फिर मिली बोली एमी तुम मेरे पास आओ और सब लड़कियों अब ध्यान से देखो आपको कुछ विशेष देखने को मिलेगा फिर अपनी गोद की ओर इशारा करते हुए, 'इधर आओ, एमी,' उसने कहा, जिस पर दबी हुई उत्सुकता से कांपती हुई एमी ने तुरंत खुद को स्थापित कर लिया। मिली ने उसके कान में कुछ फुसफुसाया और उसे प्यार से चूमा, लेकिन मिली ने एमी के कान में जो भी कहा उसे सुन एमी का रंग पहले से ज्यादा लाल हो गया।

तो दोस्तों कहानी जारी रहेगी। आगे क्या हुआ? ये अगले भाग में पढ़िए।

आपका दीपक
Reply
09-03-2023, 05:57 AM,
#98
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र


चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -24

लिली के साथ मजे.



आपने मेरी कहानी  मेरे अंतरंग हमसफ़र, चतुर्थ अध्याय भाग 23 में अब तक पढ़ा:

मैं अपनी पत्नी प्रीती को अपनी अभी तक की अंतरंग हमसफर लड़कियों के साथ मैंने कैसे और कब सम्भोग किया। ये कहानी सुनाते हुए बता रहा था की, किस तरह मेरी फूफरी बहन की पक्की सहेली हुमा की पहली चुदाई जो की मेरे फूफेरे भाई टॉम के साथ होने वाली थी। टॉम को बुखार होने के बाद मेरे साथ तय हो गयी। फिर सब फूफेरे भाई, बहनो और हुमा की बहन रुखसाना तथा मेरी पुरानी चुदाई की साथिनों रूबी, मोना और टीना की मेरी और हुमा की पहली चुदाई को देखने की इच्छा पूरी करने के लिए सब लोग गुप्त तहखाने में बने हाल में ले जाए गए। मैं दुल्हन बनी खूबसूरत और कोमल मखमली जिस्म और संकरी चूत वाली हुमा ने अपना कौमर्य मुझे समर्पित कर दिया उसके बाद मैंने उसे सारी रात चोदा और यह मेरे द्वारा की गई सबसे आनंदभरी चुदाई थी। उसके बाद सब लोग घूमने मथुरा आगरा, भरतपुर और जयपुर चले गए और घर में एक हफ्ते के लिए केवल मैं, हुमा और रोज़ी रह गए। जाते हुए रुखसाना बोली दोनों भरपूर मजे करना। उसके बाद मैं और हुमा एक दूसर के ऊपर भूखे शेरो की तरह टूट पड़े और हुमा को मैंने पहले चोदा और फिर उसके बाद बहुत देर तक चूमते रहे।

उसके बाद मैं फूफा जी के कुछ जरूरी कागज़ लेकर श्रीमती लिली से मिलने गया पर इस कारण से हुमा नाराज हो कर चली गयी । लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था। उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा, और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। 


[Image: lick5.gif]

मैंने लिली की जांघो और उसकी टांगो को चूमा और सहलाया फिर उसकी योनि के ओंठो को चूमा, चूसा और फिर मेरी जीभ ने उसके महीन कड़े भगशेफ की खोज की, मैंने उसे परमानंद में चूसा, और उसने मेरा मुँह अपने चुतरस से भर दिया।

लिली ने लंड को पकड़ लंडमुड से भगनासा को दबाया और योनि के ओंठो पर रगड़ा और अपनी जांघो की फैलाते हुए योनि के प्रवेश द्वार पर लंड को लगाया और उसने अपने नितंबों को असाधारण तेज़ी और ऊर्जा के साथ ऊपर फेंक दिया। मेरा कठोर खड़ा हुआ लंड लिली की टाइट और कुंवारी चूत के छेद में घुस गया और मैंने लिली को आसन बदल कर भी चोदा। मैं पास के कमरे में गया वहां हुमा थीं। हम दोनों एक दूसरे की बांहो जकड़ कर जन्नत के आनंद का मज़ा लिए और मैंने ढेर सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ा।



कुछ देर बाद पर्दा हटा कर मैंने लिली के कक्ष में झाँका और मैंने वहाँ बिस्तर पर गहरी नींद में सोई हुई प्यारी परम् सुंदरी लिली को देखा। मैं अपने उत्तेजित और झटकेदार उपकरण के सिर और बिंदु को उसके निचले आधे हिस्से के बिल्कुल सामने ले आया और फिर मैंने एक झटके में ही लंड मुंड को अंदर कर दिया! मेरा लंड एक बार फिर झड़ने के बाद कठोर ही रहा और उसे देख लिली थोड़ा आश्चर्यचकित हुई और मैंने उसने अपने ऊपर आने के लिए उत्साहित किया। हुमा भी घण्टे की आवाज़ से जग गयी थी और मुझे ढूँढते हुए लिली के कमरे में पता नहीं कब आ गयी थी लिली की चुदाई देखने के बाद हुमा भी मेरे साथ चिपक गयी। फिर मैंने हुमा और लिली की रात भर चुदाई की। अगले दिन लिली बोली अब तुम्हे मेरी दोनों बहने भी चाहती हैं और तुम्हे उन्हें भी चोदना होगा। दीपक मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरी बहनें मिली सबसे बेहतरीन महिला हैं और एमी बहुत कमसिन है। मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रखते हुए उत्तर दिया मैं अपने आप को पूरी तरह से आपको समर्पित करता हूँ और आपकी सेवा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा और हमने उसकी कार से हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान किया।'

कार में मैं मिली की बगल में बैठा उसे निहार रहा था और यह वास्तव में बहुत सुंदर थी, मैंने उसकी पतली कमर ने अपनी बाहों डाल कर उसे कसकर गले से लगा लिया, उसे चूमा और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच में धकेल दिया और मुझे उसकी झांटों के बीच योनि के नंगे होंठ महसूस किये। मैंने मिली को एयरपोर्ट से घर के रास्ते के बीच में ही चोद दिया।


[Image: car1.gif]
घर में मिली मुझे खींच कर अपने कमरे में ले गयी।अगले कुछ ही पलो में हम दोनों चुंबन करते हुए नग्न हो गए और बिस्तर में एक दुसरे के साथ गुथम गुथा हो गए। उसके बाद तय हुआ एमी के कौमार्य भंग करने का कार्यक्रम कल रात के लिए रखा गया और आज रात मैं लिली और मिली को समर्पित की जायेगी।

अंत में जब तय समय हो गया तो मैं उठा और मिली के कमरे में गया और फिर मिली, लिली और एमी को चुंबन किया। फिर नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया। फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया और मैंने उसकी पीली नीली पोशाक की टॉप को उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके स्तनों को पकड़ लिया और उन्हें सहलाने लगा।उसकी गर्म गुलाबी योनि को बहुत सहलाया और उसका सौंदर्य निरिक्षण किया और सपना को उसके स्थान की तरफ जाते हुए मैंने उसके नितम्बो के गालों को बारी-बारी से तनावग्रस्त और ढीले होते हुए देखा।


[Image: WALK1.gif]

उसके बाद हुमा चुनी गयी और मैंने उसके पकडे निकाले और चुकी वो मुझ से झगड़ कर और नाराज होकर चली गयी तो मुझे लगा उसे दण्डित किया जानना चाहिए। मैंने हुमा को हलकी से सजा दी और उसे माफ़ कर दिया।मिली ने अपने सेक्स ज्ञान का मुझे थोड़ा सा नमूना दिया तो मैंने उसे तुरंत अपना सेक्स गुरु बना लिया।



[Image: KIS-EMB.gif]
famous broken heart poems

मिली में मेरा प्रक्षिक्षण शुरू करते हुए अपने होठं मेरे होठ से लगा दिये और किस किया और बोली तुम तो बहुत ही अच्छी किस करते हो दीपक। मैं तो सोच रही थी तुमको किस करने की भी ट्रेनिग देनी पडेगी लेकिन ऐसा लगता इसकी कोई जरूरत नहीं है। फिर वो बोली अब तुम पहले लिली के साथ मजे ले लो फिर तुम्हारा प्रशिक्षण जारी रहेगा।

मेरे अंतरंग हमसफ़र, चतुर्थ अध्याय भाग 23 से उद्धृत :

"मिली मुझे देख मुस्कुरायी और मेरे को, लिली को एमी को और यह सुनाने के लिए जोर से फुसफुसायी लिली अब तुम दीपक के पास आ जाओ! लिली से सुन कर शरमा गई, लेकिन एमी क्रिमसन हो गई और उसने जल्दी से मेरी ओर देखा।

फिर मिली बोली एमी तुम मेरे पास आओ और सब लड़कियों अब ध्यान से देखो आपको कुछ विशेष देखने को मिलेगा फिर अपनी गोद की ओर इशारा करते हुए, 'इधर आओ, एमी,' उसने कहा, जिस पर दबी हुई उत्सुकता से कांपती हुई एमी ने तुरंत खुद को स्थापित कर लिया। मिली ने उसके कान में कुछ फुसफुसाया और उसे प्यार से चूमा, लेकिन मिली ने एमी के कान में जो भी कहा उसे सुन एमी का रंग पहले से ज्यादा लाल हो गया।"

अब आगे:-

फिर सब लड़कियों के लिली के पास हुई और उसे घेर लिया और मेरे सामने उसे हाथो और बाजुओं से छिपा लिया और मुझे सिर्फ लड़कियों के हाथ और बाजू ही नजर आ रहे थे और लिली उनमे चुप गयी थी । फिर लड़कियों ने एक-एक कर के अपनी एक-एक बाजू या हाथ को-को हटाया तो लिली मेरे सामने खड़ी अपने स्तनों को सहला रही थी।

[Image: barbi1.jpg]

फिर लिली ने अपने स्तनो को अपनी उंगलियों में पकड़ कर दबाया और उन्हें ऊपर से धीरे-धीरे दबाते हुए अपने हाथ निप्पल के पास ले गयी और निप्पल को सहलाने लगी। वह अपना समय ले रही थी और इससे मेरी हालत खराब हो रही थी। अब उसके हाथ उसके स्पॉट पेट पैर से होते हुए नीचे की चले गए. फिर उसके हाथ उसकी योनि क्षेत्र में चले गए और उसकी उंगलिया उसकी योनी के कोमल मांस में छुप गयी और उस संक्षिप्त क्षण के लिए उसके पेट की मांसपेशियाँ सख्त हो गईं,

उसने अपने एक हाथ को अपने शरीर पर फिराया। यह हाथ उसके स्तनों को दबाने के लिए कुछ समय के लिए रुक कर फिर उसके पेट के साथ वापस उसकी चूत पर आ गया। उसकी लंबी उंगली नीचे की ओर झुकी और उसके भगशेफ तक पहुँचने के लिए योनि के मैजेंटा होठों को थोड़ा-सा विभाजित किया!

फिर लिली लहराते हुए घूमी और उसने चम्मच से अपने पास रखे हनीपोट में से शहद निकाला और उसे अपने स्तनों के निपल्स पर रगड़ा और उसकी अच्छी तरह गोल छाती पर उसके निप्पल लाल चेर्री की तरह चमक उठे। वह फिर मेरे पास चली आयी और एक स्तन को मेरे होठों तक धकेल दिया और कहा, "इसमें से शहद चाटो!" मैंने लालच से अपना मुँह खोला जीभ निकाली और स्तन पर फिरा कर उसे चाटा और ओंठ ब्नद कर एक निप्पल को चूसा और फिर दूसरा। लेकिन यह उसे काफी नहीं लग रहा था। मुझे उन निपल्स को अपने दांतों के बीच ले जाना चाहिए था लेकिन पता नहीं क्यों मैंने ऐसा नहीं किया।

मेरी धोती के अंदर मेरा लंड ऊपर उठा और उसकी योनी की ओर इशारा किया, मैं अब बुरी तरह से उसे चोदना चाहता था!

मैंने अपनी बाहें खोली और कहा मेरी प्यारी लिली क्या मैं तुम्हें गले लगा सकता हूँ और वह मेरी बाहों में दौड़ पड़ी और मैंने अपनी बाँहों को लिली के चारों डाल दिया और उसे अपनी ओर खींचकर उसे मेरे दिल से दबा दिया, हमारे होंठ जुड़ गए और हम एक लंबे समय तक चुंबन करते रहे।


[Image: kis2.gif]

"मेरी प्यारी लिली, मेरी परी; मेरी प्यारी मेरी जान! मैं तुमसे प्यार करता हूँ; मैं तुम्हें बहुत प्यार करता हूँ।" मैं उसे प्यार करते हुए बोल रहा था। वह अब मेरे सीने पर अपने स्तन गूंथ रही थी और उसकी चूत और कुल्हे ऊपर-नीचे उछल रहे थे ।

लिलीने मेरी बाहो में आ कर आराम करने की जगह खुद को मुझे समर्पित कर दिया और दुलार के साथ मेरे चुंबन का जबाब चुंबन देकर दुलार का जबाब दुलार के साथ। उसके गोरे बदन का रंग गुलाबी हो गया और उसकी आँखें चमक उठीं। और वह भी "ओह मेरे दीपक मेरे मास्टर मेरे प्यारे दीपक मेरी जान! मैं तुमसे प्यार करती हूँ; मैं तुम्हें बहुत प्यार करती हूँ। ओह! माई दीपक माई लव,", "आई लव यू। मैं तुम्हारी हूँ।" बोलती हुई मुझे चुम्बन करने लगी



[Image: KIS1.gif]
आप इस बात का अंदाजा लगा सकते हो है कि इस तरह के दुलार का मुझ पर क्या असर हुआ। मुझे लगा की मैं बिजली की चिंगारी से टकरा गया और वह एक क्षण ऐसा था मानो मुझे लकवा मार गया हो और मैं अपना होश लगभग खो चुका था। फिर जब उसे मुझे एक बार फिर चुंबन किया तो मुझे जैडसे होश आया और मैंने खुद को संभाला।

मैंने फिर से उसके होंठो को दबाते हुए एक चुंबन किया जिसका उसने-उसने तहे दिल से जवाब दिया। उसने खुद को मेरे चारों ओर लपेट लिया और मुझे अपने ऊपर खींच लिया जिससे मैं उसके ऊपर आधा और आधा सोफे पर लेट गया। मेरा लंड उसकी चूत से कुछ ही दूर उसकी नाभि के मांस पर दब गया और मेरा चेहरा उसके स्तनों के बीच की खायी में उतर गया। माएने उसके स्तनों को चूमना और चाटना शुरू कर दिया, उसके स्तन बहुत स्वादिष्ट थे! मेरा मुंह इससे पहले कभी भी इतना ग्रहणशील नहीं था। उसके निप्पलों का स्वाद मेरे अंदर तक ऐसे भर गया जैसे मैंने कोई दुर्लभ व्यंजन निगल लिया हो।

मैं उस समय समझ नहीं पाया कि मेरी अंगुलियों की संवेदी नसें भी पहले से दस गुना संवेदनशील हो गयी थी। मैं अब केवल उसकी त्वचा, उसके किसी भी हिस्से को छूना चाहता था, और इसलिए मेरे हाथ और मेरी उंगलिया उस समय लिली के सारे बदन जहाँ भी वह आजादी से जा सकती टी वहाँ पर फिर रही थी।


[Image: KIS01C.jpg]

ओह मेरे प्यारे बोलते हुए उसने मेरी गर्दन में अपने बाहों को डाले रख मुझे बेतहाशा चुंबन करने लगी तो मैं बोलै लिली मुझे अब पता चला कि तुम मुझे कितना चाहती हो। ओह लिली तुम कितनी सुन्दर हो और मैंने बारी-बारी से उसके प्रत्येक स्तन को छुआ और पाया की उसके स्तन और निप्पल सूज गए हैं ।

अन्य सातो लड़किया हमारे इस प्यार भरे चुंबन को बड़े गौर से देख रही थी।

फिर उसके शरीर को महसूस करते हुए मेरा हाथ उसके नाजुक स्थान पर पहुँच गया और बड़ी उत्सुकता से साथ वहाँ खोज बीन करने लगा। मुझे ऐसा लग रहा था कि लिली की योनि में थोड़ा-सा बदलाव आया है। उसकी योनि के होंठ पहले से मोटे हो गए थे; मैंने उस जगह की तलाश की जिसने लालच से मेरी बड़ी और कठोर मशीन को निगल लिया था, लेकिन मुझे एक बार फिर वहाँ पर केवल एक छोटा-सा छेद मिला जिसमें मेरी उंगली उसे दर्द दिए बिना प्रवेश नहीं कर सकती थी। उसकी चूत चुदाई के बाद से थोड़ा सूज गयी थी । मैंने अपनी उंगली को थोड़ा अंदर किया तो एक अवर्णनीय सनसनी ने उसके पूरे अस्तित्व पर आक्रमण किया। मैंने पहले धीरे से उसकी योनि को सहलाया फिर तेज, बाद में धीमे और फिर और तेज ऊँगली को आगे पीछे किया तो लिली ने शब्दों को दोहराया-"।आह! ओह्ह! ओह्ह की धीमे और फिर तेज कराहे कमरे में गूंजने लगी!"



[Image: fing1.gif]
the dead poem rupert brooke analysis

अंत में एक नर्वस ऐंठन ने लिली को जकड़ लिया और मेरी ऊँगली और हाथ पूरा गीला हो गया। वह पूरा आंनद महसूस कर रही थी क्योंकि वह इस बार बेहोश नहीं हुई थी। और फिर उसने अपनी बिखरी हुई इंद्रियों को इकट्ठा किया और मैंने उसके प्यारे नंगे नितम्बो पर हल्के से थपथपाया और पूछा, "क्या तुम्हें कुछ अलग लग रहा है, लिली?"

लिली को लगा शायद मैं उसे भी हुमा की तरह कुछ सजा दूंगा तो वह बोली ओह्ह! कृपया, -ओह, कृपया मुझे हुमा की तरह सजा मत दीजिये उसने मुझसे भीख माँगी और अपना सिर मेरी तरफ घुमाया ताकि वह मेरे चेहरे की ओर देख सके। "आप जो चाहते हैं, मैं वह करूँगी, अगर आप चाहते हैं कि मुझे इस तरह चोट लगे तो आप वह भी कर सकते हैं।" वह थोड़ा घबरा कर बोली ।

सभी लड़किया लिली के इस प्रेम प्रलाप को सम्भोग का आनद लेते हुए बड़े गौर से देख रही थी।

लिली! पहली बात यह है कि जब मैं आपसे कोई प्रश्न पूछूं तो आप मुझे उसका उत्तर देना। "मैंने उससे कहा।" क्या आप अब कुछ अजीब या अलग महसूस कर रही हो? " मैंने अपना सवाल दोहराया ।



[Image: ERRECT3.jpg]
वह एक पल रुकी और फिर बोली, "हाँ। मुझे ऐसा लगता है। ऐसा लगता है कि मेरे पेट के ठीक नीचे नाभि के पास कुछ बहुत सख्त है जो पहली बार लेटने पर नहीं थी। और ये अब मेरे पेट पर जोर से दबाव डाल रहा है।"

"तो बेहतर होगा कि आप उठें और पता करें कि वह गांठ क्या है।" मैंने उसे गंभीरता से बताया। "और तब तक मत रुकना जब तक आप गांठ के बारे में सब कुछ नहीं पता लगा लेती और जांच नहीं कर लेती।"

कहानी जारी रहेगी। आगे क्या हुआ? ये अगले भाग 25 में पढ़िए।

आपका दीपक
Reply
10-14-2023, 12:06 PM, (This post was last modified: 10-14-2023, 12:07 PM by aamirhydkhan.)
#99
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र

चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -25

लिली ने की लंड चुसाई.




आपने मेरी कहानी मेरे अंतरंग हमसफ़र, चतुर्थ अध्याय भाग 24 में अब तक पढ़ा:



मैं अपनी पत्नी प्रीती को अपनी अभी तक की अंतरंग हमसफर लड़कियों के साथ मैंने कैसे और कब सम्भोग किया। ये कहानी सुनाते हुए बता रहा था की, किस तरह मेरी फूफरी बहन की पक्की सहेली हुमा की पहली चुदाई जो की मेरे फूफेरे भाई टॉम के साथ होने वाली थी। टॉम को बुखार होने के बाद मेरे साथ तय हो गयी। फिर सब फूफेरे भाई, बहनो और हुमा की बहन रुखसाना तथा मेरी पुरानी चुदाई की साथिनों रूबी, मोना और टीना की मेरी और हुमा की पहली चुदाई को देखने की इच्छा पूरी करने के लिए सब लोग गुप्त तहखाने में बने हाल में ले जाए गए। मैं दुल्हन बनी खूबसूरत और कोमल मखमली जिस्म और संकरी चूत वाली हुमा ने अपना कौमर्य मुझे समर्पित कर दिया उसके बाद मैंने उसे सारी रात चोदा और यह मेरे द्वारा की गई सबसे आनंदभरी चुदाई थी। उसके बाद सब लोग घूमने मथुरा आगरा, भरतपुर और जयपुर चले गए और घर में एक हफ्ते के लिए केवल मैं, हुमा और रोज़ी रह गए। जाते हुए रुखसाना बोली दोनों भरपूर मजे करना। उसके बाद मैं और हुमा एक दूसर के ऊपर भूखे शेरो की तरह टूट पड़े और हुमा को मैंने पहले चोदा और फिर उसके बाद बहुत देर तक चूमते रहे।

उसके बाद मैं फूफा जी के कुछ जरूरी कागज़ लेकर श्रीमती लिली से मिलने गया पर इस कारण से हुमा नाराज हो कर चली गयी । लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था। उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा, और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। मैंने लिली की जांघो और उसकी टांगो को चूमा और सहलाया फिर उसकी योनि के ओंठो को चूमा, चूसा और फिर मेरी जीभ ने उसके महीन कड़े भगशेफ की खोज की, मैंने उसे परमानंद में चूसा, और उसने मेरा मुँह अपने चुतरस से भर दिया।

लिली ने लंड को पकड़ लंडमुड से भगनासा को दबाया और योनि के ओंठो पर रगड़ा और अपनी जांघो की फैलाते हुए योनि के प्रवेश द्वार पर लंड को लगाया और उसने अपने नितंबों को असाधारण तेज़ी और ऊर्जा के साथ ऊपर फेंक दिया। मेरा कठोर खड़ा हुआ लंड लिली की टाइट और कुंवारी चूत के छेद में घुस गया और मैंने लिली को आसन बदल कर भी चोदा। मैं पास के कमरे में गया वहां हुमा थीं। हम दोनों एक दूसरे की बांहो जकड़ कर जन्नत के आनंद का मज़ा लिए और मैंने ढेर सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ा।

कुछ देर बाद पर्दा हटा कर मैंने लिली के कक्ष में झाँका और मैंने वहाँ बिस्तर पर गहरी नींद में सोई हुई प्यारी परम् सुंदरी लिली को देखा। मैं अपने उत्तेजित और झटकेदार उपकरण के सिर और बिंदु को उसके निचले आधे हिस्से के बिल्कुल सामने ले आया और फिर मैंने एक झटके में ही लंड मुंड को अंदर कर दिया! मेरा लंड एक बार फिर झड़ने के बाद कठोर ही रहा और उसे देख लिली थोड़ा आश्चर्यचकित हुई और मैंने उसने अपने ऊपर आने के लिए उत्साहित किया। हुमा भी घण्टे की आवाज़ से जग गयी थी और मुझे ढूँढते हुए लिली के कमरे में पता नहीं कब आ गयी थी लिली की चुदाई देखने के बाद हुमा भी मेरे साथ चिपक गयी। फिर मैंने हुमा और लिली की रात भर चुदाई की। अगले दिन लिली बोली अब तुम्हे मेरी दोनों बहने भी चाहती हैं और तुम्हे उन्हें भी चोदना होगा। दीपक मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरी बहनें मिली सबसे बेहतरीन महिला हैं और एमी बहुत कमसिन है। मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रखते हुए उत्तर दिया मैं अपने आप को पूरी तरह से आपको समर्पित करता हूँ और आपकी सेवा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा और हमने उसकी कार से हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान किया।'

कार में मैं मिली की बगल में बैठा उसे निहार रहा था और यह वास्तव में बहुत सुंदर थी, मैंने उसकी पतली कमर ने अपनी बाहों डाल कर उसे कसकर गले से लगा लिया, उसे चूमा और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच में धकेल दिया और मुझे उसकी झांटों के बीच योनि के नंगे होंठ महसूस किये। मैंने मिली को एयरपोर्ट से घर के रास्ते के बीच में ही चोद दिया।

घर में मिली मुझे खींच कर अपने कमरे में ले गयी।अगले कुछ ही पलो में हम दोनों चुंबन करते हुए नग्न हो गए और बिस्तर में एक दुसरे के साथ गुथम गुथा हो गए। उसके बाद तय हुआ एमी के कौमार्य भंग करने का कार्यक्रम कल रात के लिए रखा गया और आज रात मैं लिली और मिली को समर्पित की जायेगी।

अंत में जब तय समय हो गया तो मैं उठा और मिली के कमरे में गया और फिर मिली, लिली और एमी को चुंबन किया। फिर नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया। फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया और मैंने उसकी पीली नीली पोशाक की टॉप को उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके स्तनों को पकड़ लिया और उन्हें सहलाने लगा।उसकी गर्म गुलाबी योनि को बहुत सहलाया और उसका सौंदर्य निरिक्षण किया और सपना को उसके स्थान की तरफ जाते हुए मैंने उसके नितम्बो के गालों को बारी-बारी से तनावग्रस्त और ढीले होते हुए देखा।

उसके बाद हुमा चुनी गयी और मैंने उसके पकडे निकाले और चुकी वो मुझ से झगड़ कर और नाराज होकर चली गयी तो मुझे लगा उसे दण्डित किया जानना चाहिए। मैंने हुमा को हलकी से सजा दी और उसे माफ़ कर दिया।मिली ने अपने सेक्स ज्ञान का मुझे थोड़ा सा नमूना दिया तो मैंने उसे तुरंत अपना सेक्स गुरु बना लिया।

मिली में मेरा प्रक्षिक्षण शुरू करते हुए अपने होठं मेरे होठ से लगा दिये और किस किया और बोली तुम तो बहुत ही अच्छी किस करते हो दीपक। मैं तो सोच रही थी तुमको किस करने की भी ट्रेनिग देनी पडेगी लेकिन ऐसा लगता इसकी कोई जरूरत नहीं है। फिर वो बोली अब तुम पहले लिली के साथ मजे ले लो फिर तुम्हारा प्रशिक्षण जारी रहेगा। मिली ने मेरे साथ एक लम्बा और गहरा गर्म चुंबन किया और फिर बोली तुम एक हीरे हो जिसे मैं ट्रैन करके पोलिश कर के चमका दूँगी ।

मेरे अंतरंग हमसफ़र चतुर्थ अध्याय भाग 24, से उद्धृत :

लिली! पहली बात यह है कि जब मैं आपसे कोई प्रश्न पूछूं तो आप मुझे उसका उत्तर देना। "मैंने उससे कहा।" क्या आप अब कुछ अजीब या अलग महसूस कर रही हो? " मैंने अपना सवाल दोहराया ।

वह एक पल रुकी और फिर बोली, "हाँ। मुझे ऐसा लगता है। ऐसा लगता है कि मेरे पेट के ठीक नीचे नाभि के पास कुछ बहुत सख्त है जो पहली बार लेटने पर नहीं थी। और ये अब मेरे पेट पर जोर से दबाव डाल रहा है।"

"तो बेहतर होगा कि आप उठें और पता करें कि वह गांठ क्या है।" मैंने उसे गंभीरता से बताया। "और तब तक मत रुकना जब तक आप गांठ के बारे में सब कुछ नहीं पता लगा लेती और जांच नहीं कर लेती।"

अब आगे:-

लिली तुरंत मेरी गोद से नीचे उतरी और मैंने उसे जगह देने के लिए अपनी कुर्सी को टेबल से पीछे खिसका दिया। जब उसने मेरी लुंगी के सामने का उभार देखा, तो वह ईमानदारी से हैरान और उलझन में लग रही थी कि उभार का आकार इतना ज्यादा क्यों है, क्योंकि उसे पता था कि इसका क्या मतलब है।

अपनी अंतर्निहित विनम्रता के कारण वह सबके सामने इस उभार की जांच करने बारे में मेरे आदेशों का पालन करने में झिझक रही थी, लेकिन हुमा की सजा को याद करते हुए, वह मेरे सामने झुक गई। मेरी लुंगी के ऊपर से ही उसके मोटे नन्हे हाथों ने मेरे कठोर लंड को छुआ और यह मेरी लुंगी के अंदर गया और फिर उसने लुंगी को हटाया तो एक झटके के साथ मेरा लंड बाहर निकला और लिली के गालों से टकराया। मेरे लंड की पहली झलक देखते ही मिली की गोद में एमी आश्चर्य से उछल पड़ी और फिर मिली की ओर प्रश्नवाचक दृष्टि से देखा, मानो पूछ रही हो कि यह अजीब चीज क्या है जो अभी-अभी मेरी लुंगी से बाहर दिखाई दी है।

मिली उसके विस्मय और उसकी प्रतिक्रिया को देख कर जोर से हँसी और मैं हुमा और रोजी उसके साथ हसने लगे। एमी और लिली दोनों शरमा गई और हम हंस रहे थे, क्योंकी लिली के हाथ में उसके चेहरे के ठीक सामने एक व्यस्क मर्द का खड़ा हुआ बड़ा मोटा लम्बा और कड़ा लंड था जिससे लिली के गालो पर चपत लग गयी थी। जाहिर तौर पर इसका एमी के लिए कोई मतलब नहीं था इसलिए यह उसे शर्मिंदा नहीं होना चाहिए था पर ये पहला मौका था जब उसने एक व्यस्क लंड देखा था।

"आप अब तक ठीक कर रहे हैं, लिली।" मैंने लिली को आश्वासन दिया, उसकी टांगो से होते हुए मेरी नज़र स्वतः ही उसकी नन्ही गुलाबी योनी पर टिक गई। तो मिली बोली लिली आपके पास सीखने के लिए बहुत कुछ है और मुझे लगता कि मुझसे इसे सीखने में आपको आनंद भी मिलेगा।

अब सभी लड़कियों को आने दो और उन्हें इसे देखने दो लिली ने मिली की आज्ञा का पालन किया और थोड़ा पीछे होती हुई सीढ़ी होकर बैठ गयी । मैं उसके प्यारे गोल नितम्बो की चिकोटी को देखकर मोहित हो गया। एमी भी लिली को देख रही थी, सपना, शबनम, डेज़ी और एमी सहित सभी लड़कियाँ मेरी सख्त लंबी और सीधे लंड की पहली झलक से चकित थीं। हुमा भी एक टक मेरे लंड को देख रही थी ।

" आह! ओह! वाह देखो लड़कियों देखो! ये कितना सुंदर है! कितना मोटा, लम्बा!! और इतना बड़ा! और ये कठोर ही नहीं है बल्कि लोहे की रोड की तरह इसका सर गर्म और लाल भी है! और फिर दीपक के पास कितने अच्छे बड़े अंडकोष हैं जिनमे हम सबके लिए ढेर सारे रस का भंडार है! ये ही आनद, ख़ुशी और मजे का वो औजार है जो हम सबको जननत की सैर पर ले जाएगा आओ आओ इसे देखो. डरो मत।"

मिली ने लंड को पकड़ कर एक बारी घुमा कर सब लड़कियों को दिखाया और लड़कियों द्वारा मेरे लंड को पहली बार देखने के बाद मैंने लिली को मेरे फैले हुए घुटनों के बीच घुटने टेकने का आदेश दिया। उसके हाथों और चेहरे को मेरे खड़े हुए लंड के करीब रखते हुए, मैंने उससे कहा कि वह उसे को चाटे और चूसें। उसके स्पर्श और उसकी सुंदरता ने मुझ पर अपना प्रभाव दिखाएँ शुरू कर दिया था।

उसने तुरंत आज्ञा मान ली और लिली मेरे खड़े हुए लंड को हाथ से सहलाने लगी और साथ में मेरे अंडकोषों को भी सहला रही थी। फिर लिली ने सिर नीचे किया और जीभ निकाल कर लण्डमुंड चाटने लगी। उसकी जीभ को लंडमुंड पर महसूस करते ही मेरा लंड सख्त महसूस होने लगा और इस बीच लंड की लम्बाई और अंडकोषों को उसने प्यार से अपने हाथ से सहलाया।

मेरे संवेदनशील लंड पर उसके भरे हुए कामुक होंठों को देख और महसूस कर मैं बहुत उत्तेजित हो गया लेकिन मैंने इस पूरे अद्भुत प्रकरण को धीरे-धीरे करने का दृढ़ संकल्प किया ताकि इसके रोमांच का अधिकतम आनंद लिया जा सके।

जब मैंने उसके रोमांचक मुंह में अंदर अपने बड़े लंड के बैंगनी सिर को समाते हुए देखा तो मुझे उस परम परमानंद का अनुभव हुआ जिसका मैं यहाँ वर्णन नहीं कर सकता जो। ये रोमांच गहरा और लंबा और किसी भी अन्य चीज़ से अधिक संतोषजनक था जो मैंने पहले कभी अनुभव किया था। मेरी उस समय की भावनाओं का पूर्व के अनुभवों का कोई मुक़ाबला नहीं था। 7 अन्य लड़कियों के सामने जिनमे से 4 कुंवारी थीं। एक रमणीय अति सुंदर और पूरी तरह से आकर्षक महिला मेरा कठोर और उत्तेजित लंड चूस रही थी। मैं उन सबके चेहरे का उत्साह उत्तेजना, रोमांच और विस्मय देख कर मजे और आनद ले रहा था।

मैंने लिली के सिर को धीरे से लेकिन मजबूती से अपने हाथों के बीच पकड़ लिया और उसके अनुभवहीन मुंह को लंड अंदर लेने और चूसने के लिए मेरे लंड के उभरे हुए बैंगनी सिरे को उत्तेजित करने के लिए निर्देशित किया। लिली ने लंडमुंड मुँह में ले लिया और उसकी मासूम आँखें दया की एक खामोश याचना करते हुए मेरे चेहरे की ओर देख रही थीं। उसने देखा था कि हुमा को मेरी बात ना मानने के लिए मैंने अभी उसके साथ क्या किया था और उम्मीद थी कि मैं उसे इसी तरह की सजा नहीं दूंगा, खासकर जब से वह किसी भी तरह से मेरी हर बात मानने को तैयार थी।

"लिली! अपने होंठ और जीभ का प्रयोग करो।" मैंने उससे कहा। "मेरे लंड को अब तुम अच्छी तरह से चूसो।"

उसने मेरे हर सुझाव का पालन किया क्योंकि वह अवज्ञा के लिए मिलने वाली सजा से बचने के लिए उत्सुक थी, भले ही अभी मैंने ज्याद सजा नहीं दी थी लेकिन सजा से शर्म और अपमान का अनुभव तो होता ही है। चूसते समय उसकी आँखें समय-समय पर हुमा की ओर देखती थीं और फिर वह मुझे खुश करने के अपने प्रयासों को दुगना कर देती थी।

फिर मैंने लिली के कोमल कामुक मुँह से अपने कठोर लंड को उसके गले के अंदर और नीचे तक एक लंबा स्ट्रोक लगाया तो उसके पूरे होंठ फैले हुए थे और जैसे ही मैंने उसका सिर नीचे किया, मेरा लंड उसके गर्म तंग गले में इतना गहरा घुसा कि वह ठिठकने लगी। इसने मुझे और भी उत्तेजित कर दिया, लेकिन इससे लिली की आँखों में आँसू आए और उसने चुपचाप कातर आँखों से मुझसे उसे इस पीड़ा से बचाने के लिए विनती की।

फिर मैंने उससे कहा, "तुम मेरे आदेशों का पालन करते हुए बहुत अच्छा कर रही हो, लिली। तुम्हें कुछ और देर तक चूसते और चाटते रहना होगा अगर तुम रुकी तो मुझे तुम्हें कड़ी सजा देनी होगी और तुम्हें पता है कि इससे तुम्हें कितना दुख होगा। क्या तुम समझ रही हो?"

अपनी आँखों में डर और आश्चर्य के साथ मेरी ओर देखते हुए, लिली ने अपना सिर हिलाया, वह कुछ भी बोलने में असमर्थ थी क्योंकि उसका मुँह मेरे गर्म और बड़े लम्बे लंड से भरा हुआ था। "लिली अब मेरे लंड के नीचे मॉए अंडकोषों के तलो पर अपने हाथों का उपयोग करो।" मैंने उसे आदेश दिया। " वहाँ अपने हाथों से बस धीरे से मेरी गेंदों को महसूस करो और उन्हें धीरे से दबा कर सहलाओ और अपने होठों और जीभ को मेरी लंड के सिर पर इस्तेमाल करो और अपने मुंह को लंड के ऊपर और नीचे पंप करती रहो जैसे तुम अब कर रही हो।

उसके हाथ मेरी गेंदों को धीरे से सहला रहे थे, उसकी जीभ मेरे उपकरण पर ऊपर और नीचे फिसलते हुए लंड के मुंह को थपथपा रही थी, जबकि उसकी जीभ मेरे लंड के अति संवेदनशील सिर को सहला रही थी।

मैंने एमी और अन्य लड़कियों को देखा। वे सभी लिली को गौर से देख रही थी और जाहिर तौर पर लिली की नग्न सुंदरता और मेरे लंड के आकार और जिस तरह से लिली लंड को चूस रही थी, उससे सभी बहुत कामुक उत्तेजित और रोमांचित थी। विशेष तौर से एमी की आंखें चमक रही थीं, उसके होंठ आंशिक रूप से खुले हुए थे, जबकि उसकी छाती धड़क रही थी और भारी हो गई थी।

मैं लिली और अन्य सभी लड़कियों को सुनाने के लिए जोर से फुसफुसाया, 'मिली! अगर आपको परेशानी ना हो तो मुझे लगता है की अब मुझे चुदाई करने चाहिए!?' लिली ये सुन कर शरमा गई, लेकिन एमी ये सुन कर शर्म से क्रिमसन हो गई और उसने आँखे शर्म से झुका कर मेरी ओर देखा।

'जरूर, दीपक!' मिली ने कहा और मुझे एक लम्बा चुंबन किया। फिर एक पल में मैंने अपनी लुंगी उतार कर फेंक दी और पूरी तरह से नग्न हो गया, मेरा लंड और उस समय तन कर खड़ा हुआ बहुत शानदार लग रहा था। लिली की आँखें खुशी से चमक उठीं, लेकिन एमी चौंक कर पीछे हट गई और मिली की बाहों में समा गयी, 'ओह! ओह! दीदी!' उसकी आँखें आश्चर्य और अलार्म के साथ व्यापक रूप से फैल गयी थी और वह अब मेरे लंड को देख हैरान थी।

तो मैंने हुमा, लिली, सपना और मिली जो की पूरी तरह से नग्न थी उन चारो को अगले आदेश तक फिल्मफेयर अवार्ड ट्रॉफी की डांसिंग लेडी की मुद्रा में खड़े रहने के लिए कहा।

कहानी जारी रहेगी। आगे क्या हुआ? ये अगले भाग में पढ़िए।

आपका दीपक
Reply
10-14-2023, 12:15 PM,
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
मेरे अंतरंग हमसफ़र

चतुर्थ अध्याय

लंदन जाने की तयारी

भाग -26

घट कंचुकी






पने मेरी कहानी मेरे अंतरंग हमसफ़र, चतुर्थ अध्याय भाग 25 में अब तक पढ़ा:

मैं अपनी पत्नी प्रीती को अपनी अभी तक की अंतरंग हमसफर लड़कियों के साथ मैंने कैसे और कब सम्भोग किया। ये कहानी सुनाते हुए बता रहा था की, किस तरह मेरी फूफरी बहन की पक्की सहेली हुमा की पहली चुदाई जो की मेरे फूफेरे भाई टॉम के साथ होने वाली थी। टॉम को बुखार होने के बाद मेरे साथ तय हो गयी। फिर सब फूफेरे भाई, बहनो और हुमा की बहन रुखसाना तथा मेरी पुरानी चुदाई की साथिनों रूबी, मोना और टीना की मेरी और हुमा की पहली चुदाई को देखने की इच्छा पूरी करने के लिए सब लोग गुप्त तहखाने में बने हाल में ले जाए गए। मैं दुल्हन बनी खूबसूरत और कोमल मखमली जिस्म और संकरी चूत वाली हुमा ने अपना कौमर्य मुझे समर्पित कर दिया उसके बाद मैंने उसे सारी रात चोदा और यह मेरे द्वारा की गई सबसे आनंदभरी चुदाई थी। उसके बाद सब लोग घूमने मथुरा आगरा, भरतपुर और जयपुर चले गए और घर में एक हफ्ते के लिए केवल मैं, हुमा और रोज़ी रह गए। जाते हुए रुखसाना बोली दोनों भरपूर मजे करना। उसके बाद मैं और हुमा एक दूसर के ऊपर भूखे शेरो की तरह टूट पड़े और हुमा को मैंने पहले चोदा और फिर उसके बाद बहुत देर तक चूमते रहे।

उसके बाद मैं फूफा जी के कुछ जरूरी कागज़ लेकर श्रीमती लिली से मिलने गया पर इस कारण से हुमा नाराज हो कर चली गयी । लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उसका यौवन उसके बदन और उसके गाउन से छलक रहा था। उसके दिव्य रूप, अनिन्द्य सौन्दर्य, विकसित यौवन, तेज। कमरे की साज सज्जा, और उसके वस्त्र सब मुझ में आशा, आनन्द, उत्साह और उमंग भर रहे थे। मैंने लिली की जांघो और उसकी टांगो को चूमा और सहलाया फिर उसकी योनि के ओंठो को चूमा, चूसा और फिर मेरी जीभ ने उसके महीन कड़े भगशेफ की खोज की, मैंने उसे परमानंद में चूसा, और उसने मेरा मुँह अपने चुतरस से भर दिया।

लिली ने लंड को पकड़ लंडमुड से भगनासा को दबाया और योनि के ओंठो पर रगड़ा और अपनी जांघो की फैलाते हुए योनि के प्रवेश द्वार पर लंड को लगाया और उसने अपने नितंबों को असाधारण तेज़ी और ऊर्जा के साथ ऊपर फेंक दिया। मेरा कठोर खड़ा हुआ लंड लिली की टाइट और कुंवारी चूत के छेद में घुस गया और मैंने लिली को आसन बदल कर भी चोदा। मैं पास के कमरे में गया वहां हुमा थीं। हम दोनों एक दूसरे की बांहो जकड़ कर जन्नत के आनंद का मज़ा लिए और मैंने ढेर सारा वीर्य उसकी योनि में छोड़ा।

कुछ देर बाद पर्दा हटा कर मैंने लिली के कक्ष में झाँका और मैंने वहाँ बिस्तर पर गहरी नींद में सोई हुई प्यारी परम् सुंदरी लिली को देखा। मैं अपने उत्तेजित और झटकेदार उपकरण के सिर और बिंदु को उसके निचले आधे हिस्से के बिल्कुल सामने ले आया और फिर मैंने एक झटके में ही लंड मुंड को अंदर कर दिया! मेरा लंड एक बार फिर झड़ने के बाद कठोर ही रहा और उसे देख लिली थोड़ा आश्चर्यचकित हुई और मैंने उसने अपने ऊपर आने के लिए उत्साहित किया। हुमा भी घण्टे की आवाज़ से जग गयी थी और मुझे ढूँढते हुए लिली के कमरे में पता नहीं कब आ गयी थी लिली की चुदाई देखने के बाद हुमा भी मेरे साथ चिपक गयी। फिर मैंने हुमा और लिली की रात भर चुदाई की। अगले दिन लिली बोली अब तुम्हे मेरी दोनों बहने भी चाहती हैं और तुम्हे उन्हें भी चोदना होगा। दीपक मैं आपको विश्वास दिलाती हूँ कि मेरी बहनें मिली सबसे बेहतरीन महिला हैं और एमी बहुत कमसिन है। मैंने उसके हाथ पर अपना हाथ रखते हुए उत्तर दिया मैं अपने आप को पूरी तरह से आपको समर्पित करता हूँ और आपकी सेवा में कोई कोर कसर नहीं छोड़ूंगा और हमने उसकी कार से हवाई अड्डे के लिए प्रस्थान किया।'

कार में मैं मिली की बगल में बैठा उसे निहार रहा था और यह वास्तव में बहुत सुंदर थी, मैंने उसकी पतली कमर ने अपनी बाहों डाल कर उसे कसकर गले से लगा लिया, उसे चूमा और अपना हाथ उसकी जांघों के बीच में धकेल दिया और मुझे उसकी झांटों के बीच योनि के नंगे होंठ महसूस किये। मैंने मिली को एयरपोर्ट से घर के रास्ते के बीच में ही चोद दिया।

घर में मिली मुझे खींच कर अपने कमरे में ले गयी।अगले कुछ ही पलो में हम दोनों चुंबन करते हुए नग्न हो गए और बिस्तर में एक दुसरे के साथ गुथम गुथा हो गए। उसके बाद तय हुआ एमी के कौमार्य भंग करने का कार्यक्रम कल रात के लिए रखा गया और आज रात मैं लिली और मिली को समर्पित की जायेगी।

अंत में जब तय समय हो गया तो मैं उठा और मिली के कमरे में गया और फिर मिली, लिली और एमी को चुंबन किया। फिर नंगी मिली को अपनी घुटनों पर बिठा कर उसके कांपते हुए ओंठो पर चुंबन किया। फिर मैंने सपना को अपने पास बुलाया और मैंने उसकी पीली नीली पोशाक की टॉप को उसकी कमर तक फाड़ दिया। इसके स्तनों को पकड़ लिया और उन्हें सहलाने लगा।उसकी गर्म गुलाबी योनि को बहुत सहलाया और उसका सौंदर्य निरिक्षण किया और सपना को उसके स्थान की तरफ जाते हुए मैंने उसके नितम्बो के गालों को बारी-बारी से तनावग्रस्त और ढीले होते हुए देखा।

उसके बाद हुमा चुनी गयी और मैंने उसके पकडे निकाले और चुकी वो मुझ से झगड़ कर और नाराज होकर चली गयी तो मुझे लगा उसे दण्डित किया जानना चाहिए। मैंने हुमा को हलकी से सजा दी और उसे माफ़ कर दिया।मिली ने अपने सेक्स ज्ञान का मुझे थोड़ा सा नमूना दिया तो मैंने उसे तुरंत अपना सेक्स गुरु बना लिया।

मिली में मेरा प्रक्षिक्षण शुरू करते हुए अपने होठं मेरे होठ से लगा दिये और किस किया और बोली तुम तो बहुत ही अच्छी किस करते हो दीपक। मैं तो सोच रही थी तुमको किस करने की भी ट्रेनिग देनी पडेगी लेकिन ऐसा लगता इसकी कोई जरूरत नहीं है। फिर वो बोली अब तुम पहले लिली के साथ मजे ले लो फिर तुम्हारा प्रशिक्षण जारी रहेगा। मिली ने मेरे साथ एक लम्बा और गहरा गर्म चुंबन किया और फिर बोली तुम एक हीरे हो जिसे मैं ट्रैन करके पोलिश कर के चमका दूँगी ।फिर लिली ने मेरा लुंगी में से मेरा लंड निकाल लिया और उसे चूसा।

मेरे अंतरंग हमसफ़र, चतुर्थ अध्याय भाग 25 से उद्धृत :

अपनी आँखों में डर और आश्चर्य के साथ मेरी ओर देखते हुए, लिली ने अपना सिर हिलाया, वह कुछ भी बोलने में असमर्थ थी क्योंकि उसका मुँह मेरे गर्म और बड़े लम्बे लंड से भरा हुआ था। "लिली अब मेरे लंड के नीचे मॉए अंडकोषों के तलो पर अपने हाथों का उपयोग करो।" मैंने उसे आदेश दिया। " वहाँ अपने हाथों से बस धीरे से मेरी गेंदों को महसूस करो और उन्हें धीरे से दबा कर सहलाओ और अपने होठों और जीभ को मेरी लंड के सिर पर इस्तेमाल करो और अपने मुंह को लंड के ऊपर और नीचे पंप करती रहो जैसे तुम अब कर रही हो।

उसके हाथ मेरी गेंदों को धीरे से सहला रहे थे, उसकी जीभ मेरे उपकरण पर ऊपर और नीचे फिसलते हुए लंड के मुंह को थपथपा रही थी, जबकि उसकी जीभ मेरे लंड के अति संवेदनशील सिर को सहला रही थी।

मैंने एमी और अन्य लड़कियों को देखा। वे सभी लिली को गौर से देख रही थी और जाहिर तौर पर लिली की नग्न सुंदरता और मेरे लंड के आकार और जिस तरह से लिली लंड को चूस रही थी, उससे सभी बहुत कामुक उत्तेजित और रोमांचित थी। विशेष तौर से एमी की आंखें चमक रही थीं, उसके होंठ आंशिक रूप से खुले हुए थे, जबकि उसकी छाती धड़क रही थी और भारी हो गई थी।

मैं लिली और अन्य सभी लड़कियों को सुनाने के लिए जोर से फुसफुसाया, 'मिली! अगर आपको परेशानी ना हो तो मुझे लगता है की अब मुझे चुदाई करने चाहिए!?' लिली ये सुन कर शरमा गई, लेकिन एमी ये सुन कर शर्म से क्रिमसन हो गई और उसने आँखे शर्म से झुका कर मेरी ओर देखा।

'जरूर, दीपक!' मिली ने कहा और मुझे एक लम्बा चुंबन किया। फिर एक पल में मैंने अपनी लुंगी उतार कर फेंक दी और पूरी तरह से नग्न हो गया, मेरा लंड और उस समय तन कर खड़ा हुआ बहुत शानदार लग रहा था। लिली की आँखें खुशी से चमक उठीं, लेकिन एमी चौंक कर पीछे हट गई और मिली की बाहों में समा गयी, 'ओह! ओह! दीदी!' उसकी आँखें आश्चर्य और अलार्म के साथ व्यापक रूप से फैल गयी थी और वह अब मेरे लंड को देख हैरान थी।

तो मैंने हुमा, लिली, सपना और मिली जो की पूरी तरह से नग्न थी उन चारो को अगले आदेश तक फिल्मफेयर अवार्ड ट्रॉफी की डांसिंग लेडी की मुद्रा में खड़े रहने के लिए कहा।

अब आगे:-

चारो लड़किया हुमा, सपना, मिली और लिली उस समय एक ट्रॉफी की तरह हाथ ऊपर उठा कर खड़ी हुई थी। बड़ा अध्भुत और कामुक दृश्य था। चारो लड़कियों बहुत सुन्दर थी और उस समय मुझे उनमे से एक को चुदाई के लिए चुनना था।

मैंने एक बार उन चारो के आसपास चक्कर लगाया ताकि किसी एक को चुन सकूँ पर मैं चयन नहीं कर पा रहा था तो मुझे संशय में देखकर रोजी ने मेरी दुविधा भांप ली और बोली मास्टर अब आप ऐसा करिये पुरातन भारतीय सेक्स क्रीड़ा "घट कंचुकी" का सहारा लीजिये

प्राचीन भारत में एक सेक्स गेम (समूह सम्भोग) का खेल खेला जाता था, जिसका नाम था घट कंचुकी। इस गेम में महिलाओं और पुरुषों का एक समूह हिस्सा रात के वक्त एक जगह इकट्ठा होता था। महिलाएँ और पुरुष अपने सारे कपड़े उतारकर एक घड़े में डाल देते। इसके बाद महिलाएँ एक पर चक्र के निशान के इर्द-गिर्द बैठ जातीं। गेम में हिस्सा ले रहा हर पुरुष घड़े में मौजूद महिलाओं के कपड़ों में से एक कपड़ा उठाता और जिस महिला का वह कपड़ा होता था, वह महिला उस रात के लिए उसका सेक्स पार्टनर बन जाती थी।

अब इस समय हमारे पास चार लड़किया और आप ही केवल एकमात्र पुरुष है तो इस खेल में थोड़ा-सा परिवर्तन कर लेते हैं। सब महिलायो के वस्त्र एक घड़े में डाल देते हैं और उनमे से एक वस्त्र को बाहर निकाल लेंगे और जिसका वस्त्र होगा वही आज रात आपकी पहली सेक्स पार्टनर होगी।

तो मिली ने पुछा उस समय बाकी लड़किया क्या करेंगी। तो रोजी बोली बाकी सब लोग उस समय सम्भोग को देखेंगे और सीखेंगे।

तो मिली बोली उसके बाद? तो मैं बोला उसके बाद क्या होगा उसे बाद में तय कर लेंगे।

तो सबके कपडे एक घड़े में डाल दिए गए और मैंने बोला अब रोजी ही इसमें से पहला कपड़ा निकाल कर मेरी पहले सेक्स पार्टनर का पता लगाएगी।

तो एमी ने हाथ डाल कर सब कपड़ो को अच्छे से घुमा फिर कर, मिक्स कर दिया और फिर रोजी ने घड़े में हाथ डाल कर हाथ निकाला तो उसमे लिली के वस्त्र थे और सबने ताली बजा कर लिली को बधाई दी।

बाकी लड़कियों को मैंने हाथ नीचे कर उपयुक्त जगह लेकर बैठने को कहा तो मिली सपना के साथ और मिली की गोदी में एमी बैठी, एमी के साथ में उसकी सहायिका शबनम बैठी और एक तरफ हुमा, लिली की सहायिका डेज़ी और रोजी बैठ गयी।

मैं लिली की तरफ बढ़ गया और लिली के चारो तरफ एक चक्कर लगाया तो मैंने पाया लिली का रंग शर्म और उत्तेजना से लाल हो गया था। उसके कूल्हे और स्तन बड़े और गोल थे। वह पूरी तरह से नंगी थी, उसकी बाहें, एक आकर्षक स्थिति में मुड़ी हुई थीं, जो उसकी बगल के गड्ढे के नीचे बालों की हलकी-सी वृद्धि दिखा रही थी और मैंने उसके हाथीदांत के दो सबसे उत्कृष्ट, चिकने, पूर्ण और पॉलिश किए हुए सफ़ेद संगेमरमर के गोल स्तन देखे, बल्कि उस संगेमरमर के ऊपर सजा हुआ गुलाबी मूंगा भी देखा, जो उनमें से प्रत्येक को सुशोभित कर रहा था। उसके सुंदर स्तन गोल, मोटे और मज़बूत दिखने वाले थे। मैं उन प्यारे, प्यारे चुलबुले स्तनों को अपने कब्जे में लेना चाहता था ताकि मैं उन्हें अपने हाथ में के कर दबाने के बाद, उन्हें और उनके गुलाबी चुचकों को मेरे मुंह से चूसूं!

वह पूर्ण अंडाकार सुंदर चेहरे के साथ स्त्री सौंदर्य की एक आदर्श आकृति थी! गुलाब के फूल जैसा मुँह और चेरी जैसे होंठ, छोटे-छोटे कान, उत्तम गोल चमकदार कंधे, पूर्ण और सुंदर भुजाएँ, लहराती हुई उत्तम छाती, गोल सुदृढ़ और मोठे स्तनो को मैं सहलाना और धीरे से दबाना चाहता था। उसका सौन्दर्य, यौवन और रूप मुझे कामुक उत्तेजना से भर रहे थे और मेरा लंड कामुक तुनके मार रहा था।

लिली वास्तव में बहुत सुंदर थी और उस समय मेरे सामने नग्न थी और शर्मा रही थी।

लिली के हाथ आकर्षक लालित्य वाले हैं मैंने लिली के हाथो पर हाथ रखा जो की उसके सर के ऊपर थे और उसने सहलाया और चूमा फिर धीरे-धीरे उसके पूर्ण और सुंदर हाथो और बाजुओं को सहलाते हुए उसके उत्तम गोल चमकदार कंधो पर हाथ रखा और उसके सामने आकर उसके गुलाब के फूल जैसा मुँह और चेरी जैसे ओंठो को किस किया मानो मैं किसी बेहद खूबसूरत बुत को प्यार कर रहा हूँ।

उसके गोरे गाल शर्म से लाल हो चमक रहे थे, उसके प्यारे चमकदार कंधे और उसकी उत्तम छाती पूरी तरह से नग्न थी! मैं अपनी आँखों को त्वचा के करीब ले गया तो मुझे दिखा की उसकी त्वचा की बनावट कितनी चकनी नरम और मुलायम थी।

लिली जैसी सुंदर महिला के गर्म, धड़कते शरीर को अपने इतने पास महसूस करके मेरा खून अधिक तेजी से चला, बल्कि मुझे यह महसूस होने लगा कि मेरा लिंग फटने को हो गया। मुझे उसकी सांसें साफ सुनाई दे रही थीं, जो वाकई पहले से तेज थी। मैं उसके हाथ काँपते हुए महसूस कर रहा था!

वह भी जानती थी की वह मुझे उत्तेजित कर रही है, क्योंकि वह मेरे उत्तेजित हृदय की धड़कन को मेरे तेज साँसों से महसूस कर सकती थी। मैंने अपना बायाँ हाथ उसकी पतली कमर के चारों ओर खिसका दिया और उसे अपनी ओर थोड़ा-सा आलिंगन किया।

फिर कंधो से शुरू करके गले से होकर मेरी हथेलियों ने लिली के स्तनों के ऊपर उसके गले और गार्डन को सहलाया महसूस किया और उसके मेरे स्तन का वह हिस्सा जो ब्लाउज या टॉप के ठीक ऊपर खुला रहता है वहाँ मेरे हाथ गए और मेरी उँगलियाँ उसके स्तनों की गहरी दरार को महसूस करने लगी। मेरी उँगलियाँ उसके स्तनों की गोलाइयों को महसूस कर रही थीं और स्तनों का तना हुआ मांस महसूस कर रही थीं।

मेरा हाथ और स्तनों पर गया और अब मैं सामने से मेरे पूरे स्तनों को अपनी दोनों हथेलियों से सहला रहा था और उसके तंग स्तन के मांस की गोलाई और चिकनाई का आनंद ले रहा था। अब लिली इतनी उत्तेजित हो गयी थी कि उसने अपनी मुट्ठी हवा में बंद कर ली और उसके मुँह से ओह्ह! आह! की काराहे निकल रही थी ।

महिला के पूर्ण विकसित स्तनों को खुले तौर पर छूने और महसूस करने का अवसर मिलने पर मेरे हाथो का अस्थिर होना स्वाभाविक था और चिकनाई के कारण मेरे हाथ फिसल रहे थे।

मेरी चूत के अंदर पहले से ही बड़ी हलचल हो रही थी-मानो कोई नदी, जो कई सालों से सूखी थी, अचानक उसे बारिश का पानी मिल गया। अब वह और नीचे चला गया, उसकी उँगलियाँ मेरे ब्लाउज के कपड़े को पकड़ रही थीं और मेरे पूरे स्तनों का तना हुआ मांस महसूस कर रही थीं।

वो कराह रही थी आआह! उह्ह्ह! ह्ह्हह्ह! ह्ह्ह्हाई!

मेरी उंगलियाँ और नीचे खिसक रही थीं और फिर उंगलियों दोनों स्तनों पर उसके निप्पल पर थी। मैंने उसके निपल्स के ऊपर अपनी उंगलियाँ दबाईं और उसके गोल बड़े और भरे स्तनों को छूकर और महसूस करके काफी उत्तेजित हो गया था और वह भी उत्तेजित हो गयी थी क्योंकि मैंने उसके स्तन पकड़ लिए थे और उन्हें धीरे-धीरे उन्हें दबा रहा था! मेरी हथेलियाँ ने उसके भारी स्तनों को ढँक लिया था और अपने दोनों हाथों की मध्यमा उंगली से उसके सख्त हो चुके निपल्स को सहला रहा था!

आह! यससससस? ओह्ह! प्लीज और करो!

मेरी हथेलियाँ इस समय लिली के दिल परथी और उसका दिल उस समय उत्तेजना के कारण तेज फड़क रहा था और निश्चित रूप से उसके स्तनों को दबाने का अवसर मिलने से मेरा लंड सीधा हो गया था।

मैंने उसके स्तनों को दबाते हुए उसको चूमना शुरू कर दिया । फिर लिली ने अपने होठं मेरे होठ से लगा दिये और एक किस ले लिया। फिर मैंने अपने हाथ लिली की गर्दन के पीछे ले जाकर लिली का मुँह को अपनी तरफ खीचा और अपनी जीभ निकाल कर लिली के होंठो पर जीभ फिराने लगा। उसके थोडी देर इसी तरह से जीभ फिराने के बाद मैंने उसका निचला होंठ अपने होंठो के बीच पकड लिया और फिर उस पर जीभ फिराने लगा।

थोडी देर तक इसी तरह उसके होंठो को गिला करने के बाद मैने उसके होंठ चुसने शुरू कर दिये। मैं बहुत जोर-जोर से उसके होंठो को चूस रहा था। इस बीच लिली भी अपनी जीभ निकाल कर मेरे उपरी होंठ के उपर फिरा रही थी और साथ ही साथ अपना बहुत-सा थूक अपने नीचले होंठ के पास जमा कर रही थी जिस से मैं ज्यादा से ज्यादा उसके स्वादिष्ट थूक को पी सकूँ। मैं भी हर थोडी देर में नीचले होंठ को छोड कर उसका थूक अपनी जीभ की मदद से उसके होंठो पर मलने लगता और अच्छी तरह से मल कर फिर से उसके होंठ को चुसने लगता कुछ देर तक मैं ऐसा ही उसके साथ करता रहा और अपने हाथो से उसके स्तनों और निप्पलों को दबाता रहा ।

फिर मैंने अपनी जीभ को नुकीला कर के उसके दाँतों और होंठो के बीच डाल दी और उसके दाँतों पर फिराने लगा। वोह भी अपनी जीभ को नुकीली बना कर मेरे जीभ के नीचे गोल-गोल घुमाने लगी।

थोडी देर मैंने लिली को ओंठो पर अपने होठ रखे और एक गहरा चुम्बन लेता रहा।

इसके साथ हर पल और अधिक साहसी होते हुए लिलि के स्तन दाबते हुए और किस करते हुए मैं अपना एक हाथ उसकी नाभि से उसकी-उसकी जांघो तक ले गया! और फिर अपना हाथ उसकी योनि पर ले गया तो मैंने पाया उसकी चूत गीली थी उसकी चुत ने पानी छोड़ गया था ।

चुत पर हाथ लगते ही वह बोली आआआआ आआआआआह! उह्ह्ह! ह्ह्हह्ह! हईय! ह्ह्ह्हाई!

तो दोस्तों कहानी जारी रहेगी। आगे क्या हुआ? ये अगले भाग में पढ़िए।

आपका दीपक
Reply


Possibly Related Threads…
Thread Author Replies Views Last Post
  A Fresh Perspective on Indian Live Sex and Live Porn India desiaks 0 18,915 03-13-2024, 01:53 PM
Last Post: desiaks
  Saali Adhi Gharwali - 2 ratanraj2301 1 18,723 03-12-2024, 11:57 AM
Last Post: volohan
Bug Jannath Ke Hoor's sashi_bond 0 5,963 02-29-2024, 12:54 PM
Last Post: sashi_bond
  महारानी देवरानी aamirhydkhan 211 367,565 12-20-2023, 03:29 AM
Last Post: aamirhydkhan
  गुलाबो Peacelover 19 33,640 12-04-2023, 06:42 PM
Last Post: Peacelover
Exclamation Meri sagi mom ki chudai-1 (How I became Incest) gotakaabhilash 6 55,526 12-02-2023, 01:36 PM
Last Post: gotakaabhilash
  दीदी को चुदवाया Ranu 101 549,802 11-27-2023, 01:13 AM
Last Post: Ranu
  Sach me Saali adhi Gharwali - Part 1 ratanraj2301 0 10,157 11-22-2023, 09:58 PM
Last Post: ratanraj2301
  Maa ka khayal Takecareofmeplease 25 250,073 11-08-2023, 01:58 PM
Last Post: peltat
  FFM sex series Part 1 सपना Popcorn 4 12,666 11-08-2023, 12:16 AM
Last Post: Popcorn



Users browsing this thread: 1 Guest(s)