Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
01-07-2021, 01:16 PM,
#31
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
रूबी ने आज तो अपनी पैंटी भी उतार दी थी। हालांकी कमरे में डिम लाइट जल रही थी पर फिर भी राम को उसकी गाण्ड के अच्छे से दीदार नहीं हो रहे थे। रामू के लण्ड ने उसे पागल कर दिया था, भले ही उसे लण्ड की झलक भर ही मिली थी।

इधर राम ने भी अपना लण्ड हाथ में लिया और उसे रगड़ने लगा। रूबी के ठंडी पड़ने के बाद राम ने भी अपना पानी निकाल दिया और अपने कमरे में आ गया।

रामू अब किसी भी कीमत पर रूबी को पाना चाहता था। उसने अब रूबी से बोल्ड होने का इरादा कर लिया था। इतना तो उसे पक्का था की रूबी अपनी चूत की आग को ठंडी करने के लिए तड़प रही है, और वो इस मौके का फायदा उठना चाहता था। वैसे भी आज और कल की घटनाओं के बारे में रूबी ने मालिक और मालेकिन को नहीं बताया था। अगर बताया होता तो अभी तक तो उसका बोरिया बिस्तर गोल गया होता। तो क्या यह समझा जाए की रूबी राम का विरोध ना करते हए उसे आगे बढ़ने का न्योता दे रही थी? क्या वो इस कमसिन जवानी को भोग पाएगा? रूबी के नितंबों के बारे में सोचते हए रामू के मुँह में पानी आ रहा था। क्या वो रूबी के विशाल चूतरों में अपना लण्ड रगड़ पाएगा? इन सवालों के जवाव ढूँढते-ढूंढते रामू की आँख लग गई।

उस दिन से रूबी का राम को देखने का नजरिया बदल गया। अब उसकी आँखें रामू को ही ढूँढती रहती थी। रामू जो की लड़कियों के मामले में निपुण था। अपने गाँव में उसने काफी औरतों से समंध बनाए थे। उसने रूबी की नजरों को पढ़ लिया था। उसे इतना तो पता चल गया था की रूबी के लिए वो कोशिश कर सकता है। पर उसके पास टाइम नहीं होता था रूबी से बात करने का। एक सफाई वाला टाइम होता था, जब वो रूबी के साथ होता था। पर उस टाइम पे बड़ी मालेकिन भी घर पे होती थी। अगर उसने रूबी से अपने दिल की बात बोलने की कोशिश की तो पता नहीं वो कैसी प्रतिक्रिया देंगी। कहीं बात बिगड़ ना जाए?

कुछ दिन ऐसे ही निकल गये। रूबी भी आजकल ज्यादा टाइट चूड़ीदार सलवार पहनने लगी या फिर लेगिंग ओर ट्रैक सूट में रहती थी जिससे रामू को उसके सुडौल नितंबों की झलक मिलती रहे। आखीरकार, रामू इसका तो ही दीवाना था। रूबी और रामू में आजकल स्माइल भी पास होने लगी थी, और सफाई करते-करते रूबी को राम के हाथों का स्पर्श अपने नितंबों पर महसूस भी हुआ था।

रूबी यह सब इग्नोर कर देती थी। रूबी खुद आगे नहीं बढ़ना चाहती थी। आखीरकार, वो उसकी मालेकिन थी। वो चाहती तो सीधाधा राम से अपनी दिल की बात बोल सकती थी, पर वो औरत थी। राम उस जैसी हसीन औरत को कैसे मना कर सकता था। अगर वो ऐसा करती तो रामू उसको चीप औरत समझता। वैसे भी पहल तो मर्द को ही करनी होती है। अब यह तो राम पे था की वो कब हिम्मत करता है। वो रामू से उम्मीद कर रही थी की वो आगे बढ़े।
Reply

01-07-2021, 01:20 PM,
#32
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
रूबी यह सब इग्नोर कर देती थी। रूबी खुद आगे नहीं बढ़ना चाहती थी। आखीरकार, वो उसकी मालेकिन थी। वो चाहती तो सीधाधा राम से अपनी दिल की बात बोल सकती थी, पर वो औरत थी। राम उस जैसी हसीन औरत को कैसे मना कर सकता था। अगर वो ऐसा करती तो रामू उसको चीप औरत समझता। वैसे भी पहल तो मर्द को ही करनी होती है। अब यह तो राम पे था की वो कब हिम्मत करता है। वो रामू से उम्मीद कर रही थी की वो आगे बढ़े।

एक दिन सफाई के टाइम पे रूबी ने फिर से ट्रैक सूट ही पहना था। रामू को उसकी पैंटी की आउतलाइन उसके चूतरों पे साफ-साफ दिखाई दे रही थी। पैंटी की आउतलाइन से साफ-साफ पता चल रहा था की पैंटी ने चालीस पर्सेट ही गाण्ड को ढक रखा था। पैंटी रूबी की गाण्ड को पूरा नहीं ढक पा रही थी। जब रूबी चलती थी तो उसके चूतर आपस में रगड़ खाते थे। रूबी की मटकती गाण्ड राम के दिल पे तीर चला रही थी।

रामू का मन सफाई में नहीं लग रहा था। बस रूबी की मटकती गाण्ड की तरफ ही ध्यान जा रहा था। राम के मुँह में पानी आ रहा था। रूबी जानती थी की रामू का ध्यान उसकी मटकती गाण्ड पे ही है, और काम में कम है। तभी बाहर से आवाज आती है।

कमलजीत- बह, मैं थोड़ा सा काम के लिए पड़ोस में जा रही हैं। जल्दी वापिस आ जाऊँगी।

रूबी- ठीक है मम्मीजी। वापिस कब आओगे?

कमलजीत- आधे एक घंटे तक वापिस आ जाऊँगी।

रूबी- ठीक है मम्मीजी।

आज पहली बार रूबी और रामू कुछ पल के लिए घर में अकेले होने वाले थे। रामू के पास इससे अच्छा मौका नहीं आने वाला था, जब वो रूबी से अपनी दिल की बात कर पाए।

कमलजीत के जाने के बाद रूबी ने रामू को स्टोर की सफाई करने को बोला, और खुद भी हाथ बटाने लगी। रामू उसे अपनी दिल की बात बताना चाहता था, पर थोड़ा डर भी रहा था। उसका ध्यान बार-बार घड़ी की तरफ जा रहा था। वो जानता था की टाइम निकलता जा रहा है, और कमलजीत कभी भी वापिस आ सकती है। अगर उसने अभी नहीं किया कुछ तो कभी दुबारा शायद मौका ना मिले।
Reply
01-07-2021, 01:20 PM,
#33
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
अब रूबी की पीठ रामू की तरफ थी और वो कपड़ों की तह लगा रही थी। रामू ने अपने दिल से हार मान ली
और उसने रूबी की कमर में हाथ डाल दिया, और उसे अपने से सटा लिया। रूबी ने तो सोचा था की राम उससे बात करेगा, पर उसने तो सीधा उसकी कमर को पकड़ लिया और अपने से चिपका लिया था। इस अचानक हये हमले से रूबी हड़बड़ा गई और अपनी कमर उसके चंगुल से छुड़ाने की कोशिश करने लगी।।

रूबी- रामू छोड़ो, क्या कर रहे हो?

राम- बीवीजी आप बहुत सुंदर हो।
*****
*****
रूबी- रामू मैं तुम्हारी मालेकिन हूँ, तुम क्या कर रहे हो?

रामू- बीवीजी हम आपसे बहुत प्यार करते हैं।

रामू ने रूबी की कमर में हाथ डालकर उसके चूतरों को अपने लण्ड से चिपका लिया था। उसका दूसरा हाथ रूबी के दायें उभार पे था और राम उसे रगड़ रहा था। राम अपनी कमर को भी हिला रहा था, जिससे उसका टाइट लण्ड रूबी के चूतरों पे रगड़ खा रहा था। रूबी अपने आपको रामू से छुड़ाने की नाकाम कोशिश कर रही थी।

रूबी- छोड़ो रामू, वरना मैं पापा को बता दूंगी।

रामू- बीवीजी, हम आपसे बहुत प्यार करते हैं। कब से आपको बताना चाहते हैं। आज मौका मिला है। आप भी हमसे प्यार करती हो ना?

रूबी- क्या बात करते हो रामू? मैं तुम्हारी मालेकिन हूँ। तुम यह सब कैसे सोच सकते हो?

रामू- तो क्या आप जो हमें देखकर मुश्कुराते हो वो सब झूठ है?

रूबी- वो तो मेरी नेचर ही मुश्कुराने की है रामू। तुम गलत ले गये इस बात को।

राम- “नहीं बीवीजी। हम गलत नहीं है। हमें पता है आप हमसे प्रेम करते हो। पर किसी और की बीवी हो इसलिए आप मना कर रही हो.." राम जानता था की रूबी इतनी जल्दी हाथ में नहीं आएगी। उसने रूबी की कमर को और जोर से अपने लण्ड से सटा लिया।

रूबी को उसके मोटे लण्ड का एहसास अपनी गाण्ड पे हो रहा था। पहले तो रूबी अपने आपको बचाने की भरपूर कोशिश कर रही थी। पर रामू की ताकत के सामने उसकी ताकत तो कुछ भी नहीं थी। ऊपर से उसका एक उभार रामू के हाथ में मसला जा रहा था और लण्ड चूतरों पे चोट कर रहा था। इतने टाइम से रूबी के जिश्म को किसी मर्द ने नहीं छुआ था। इससे यह हुआ कि कुछ देर स्ट्रगल करने के बाद रूबी की कोशिशें नाकाम होने लगी। उसका विरोध धीरे-धीरे काम होने लगा था।
Reply
01-07-2021, 01:20 PM,
#34
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
रूबी- प्लीज रामू छोड़ो मुझे, मम्मीजी आ जाएगी।

रामू- “बीवीजी आप बहुत सुंदर हो। आपको छोड़ने का दिल नहीं करता..."

रूबी की काफी मिन्नते करने पे भी राम नहीं उसे नहीं छोड़ता। रूबी कहती है- “राम् तुम सच में हमें प्रेम करते हो?"

राम- जी बीवीजी।

रूबी- अगर प्रेम करते हो तो अपनी बीवीजी का कहना नहीं मानोगे?

रामू- बीवीजी आपके के लिए हम कुछ भी कर सकते हैं।

रूबी- मेरी बात मानो, मुझे जाने दो।

राम-आप बाहर निकल जाओगी बीवीजी। इतने दिन से मैं अपनी बात कहने की कोशिश कर रहा था। आज मौका मिला है तो इसे व्यर्थ नहीं जाने दूंगा।

रूबी- ठीक है बात करनी है तो करो, पर मुझे छोड़ो पहले।

रामू- आप बाहर तो नहीं भाग जाओगी?

रूबी- नहीं भागती बाबा।

रामू- मेरी कसम खाकर बोलो।

रूबी पीछा छुड़ाने की कोशिश में- "तुम्हारी कसम रामू, मैं नहीं भागूंगी।

राम अपनी पकड़ ढीली कर देता है और रूबी झटके से अपने आपको उससे अलग कर लेती है और उसकी तरफ पलट जाती है। रूबी और रामू की नजरें मिलती हैं। रामू अपनी खूबसूरत मालेकिन को निहारने लगता है। रूबी को राम् की आँखों में उसे पाने की हसरत दिखाई देती है। तभी राम उसकी आँखों में आँखने डाले बोलता है।

राम- बताओ ना बीवीजी आप हमसे प्रेम नहीं करते क्या?

रूबी शर्मा जाती है और अपनी आँखें नीचे कर लेती है।

रामू- बताओ ना बीवीजी? मालेकिन कभी भी वापिस आ सकती हैं, और दुबारा शायद कभी हमें मौका ना मिले बात करने का।

रूबी- रामू पता नहीं तुम क्या बोल रहे हो? मेरे दिल में तुम्हारे लिए ऐसा कुछ नहीं है। और जिसे तुम प्रेम बोलते हो वो कुछ और है। और ऐसे कोई लड़की किसी से प्रेम नहीं करती। उसका दिल जीतना पड़ता है। तब वो प्रेम करती है।

रामू ने सोचा- “अगर उसमैंने सीधे चोदने की बात की तो शायद बात ना बने, तो वो अपनी बातों से पटाने की कोशिश करने लगा, जिसमें वो निपुण था..
Reply
01-07-2021, 01:20 PM,
#35
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
राम बोला- "बीवीजी हम उठते-बैठते सिर्फ आपके के बारे में ही सोचते हैं। आपकी आवाज इतनी मीठी है की जब आप बातें करती हैं तो ऐसे लगता है जैसे फूल बरस रहे हों। आपके होंठ इतने प्यारे हैं ऐसे लगता है जैसे शहद में भिगोया हो..."

रूबी अपनी इतनी तारीफ सुनकर शर्मा गई और चुपचाप खड़ी रही।

राम उसकी तारीफ करता गया।

रूबी- “किसी औरत की तारीफ करना तुमने कहां से सीखा? अपने गाँव में भी ऐसी ही तारीफ करते होगे लड़कियों की?"

रामू- नहीं बीवीजी ऐसा नहीं है। आप सच में बहुत खूबसूरत हो। हमारे गाँव में तो क्या आस पड़ोस के गाँव में भी आप जैसी अप्सरा नहीं है। बीवीजी दिल करता है की ऐसी ही आपको सारी उमर देखता राहँ। जब भी आप मुझे रामू बुलाती हो तो सच मानना सीधा मेरे दिल को चीर देती हो।

अपनी इतनी तारीफ रामू से सुनकर रूबी अंदर ही अंदर खुश हो रही थी, और शर्मा भी रही थी। तभी घर के गेट की आवाज आती है और कमलजीत वापिस धूप में बैठ जाती है।

रूबी- “मम्मीजी आ गयी.." और यह कहते हुए रूबी स्टोररूम से निकलने लगती है।

रामू उसका हाथ पकड़ लेता है। रूबी अपना हाथ छुड़ाने की कोशिश करती है। पर रामू ने हाथ को अच्छे से पकड़ रखा था। रूबी का नाजुक हाथ रामू के कठोर हाथ में पिस रहा था।

रूबी- रामू छोड़ो। मुझे जाने दो प्लीज... मम्मीजी कभी भी अंदर आ सकती हैं। वो पूछेगी अभी तक काम नहीं खतम हुआ क्या?

रामू- नहीं बीवीजी ऐसे नहीं जा सकते आप। इतनी मुश्किल से आज टाइम मिला था और आपने हमारा दिल तोड़ दिया।

रूबी कुछ नहीं बोलती और हाथ छुड़ाने की नाकाम कोशिश करती है।

राम- सच में बीवीजी। आप इतनी खूबसूरत हो तो इसका मतलब यह तो नहीं की हम जैसे आपसे प्रेम नहीं कर सकते?

रूबी- रामू छोड़ो। तुमने बात करने को बोला था और तुमने जो बोलना था बोल दिया। अब छोड़ो मुझे जाने दो।

राम- हमने आपकी बात मानी थी पहले और छोड़ा था। अब आपको हमारी बात माननी होगी।

रूबी- क्या?

राम- हम आपके होंठों को किस करना चाहते हैं।

रूबी- यह नहीं हो सकता रामू प्लीज... जाने दो।

रामू- सिर्फ एक चुंबन और फिर आप चली जाना।

रूबी अब फँस चुकी थी। रामू उसे जाने नहीं दे रहा था, और अगर वो बाहर नहीं गई तो मम्मीजी अंदर आ जाएंगी और अगर उन्होंने उसे रामू के साथ इस हालत में देख लिया तो मुसीबत हो जाएगी।

रामू- बताओ ना बीवीजी। सिर्फ एक चुंबन।
Reply
01-07-2021, 01:20 PM,
#36
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
रूबी एक नजर उठाकर बाहर देखती है और फिर नजर नीचे कर लेती है, और अपने आपको छुड़ाने की कोशिश बंद कर देती है। रामू इसको रूबी की सहमति समझता है और धीरे-धीरे उसके पास जाता है। रामू अपनी अप्सरा को अच्छे से निहरता है, मोटी आँखें, गुलाबी होंठ, गोरा रंग। उसे तो यकीन ही नहीं हो रहा था की वो इस हसीना के होंठ चूसने वाला है।

उधर रूबी अपना सिर नीचे झुकाए रामू के अगले कदम की इंतेजार कर रही थी। रामू ने उसकी ठोड़ी को अपने हाथ की उंगलियों से छआ और रूबी के चेहरे को ऊपर किया। रूबी के मन में एक अजीब सा डर था और उसका दिल जोर-जोर से धड़क रहा था। उसने अपनी आँखें बंद कर ली और इंतजार करने लगी। तभी उसे राम की गरम सांसें अपने चेहरे पे पड़ती महसूस हुई और रामू के होंठ रूबी के गुलाबी मुलायम होंठों से मिल गये। रूबी ने अपने चेहरे को पीछे कर लिया।

रामू- क्या हुआ बीवीजी?

रूबी- बस हो गया रामू। अब मुझे जाने दो।

राम- बीवीजी हम दोनों बच्चे नहीं हैं। अभी तो मैंने आपके होंठों का स्वाद भी नहीं चखा।

रूबी- अब कर तो लिया, अब जाने दो।

रामू- नहीं बीवीजी। मेरे दिल को तसल्ली नहीं हुई है। कुछ टाइम तो दो।

रूबी चुपचाप अपना चेहरा नीचे किए खड़ी रहती है। रामू फिर से उसके चेहरे को ऊपर करता है और अपने होंठ रूबी के होंठों से चिपका देता है। रूबी फिर से अपना चेहरा पीछे करने को कोशिश करती है पर इस बार राम एक हाथ से उसके सिर को पकड़ लेता है। इससे रूबी अपने होंठों को राम के होंठों से अलग नहीं कर पाती। इतने टाइम बाद किसी मर्द के होंठों का स्पर्श रूबी के दिल को चीर गया था।

इधर रामू ने अपने होंठों से रूबी के होंठों को धीरे-धीरे चूसना शुरू कर दिया। रूबी ने यह तो उम्मीद ही नहीं किया था। रूबी ने अपने मुँह नहीं खोला था और फिर से अपने आपको छुड़ाने की कोशिश करने लगी। पर रामू की पकड़ से वो छट नहीं पा रही थी। इधर एक हाथ से राम ने रूबी की कमर को पकड़ा और अपने से सटा लिया और धीरे-धीरे उसके चूतरों पे हाथ फिराने लगा। मर्द के हाथ का स्पर्श अपने चूतरों पर पड़ने से रूबी की अंदर की आग बढ़ने लगी।

क्या जादू था रामू के हाथों में, जो अब रूबी को अपने होंठ खोलने पे मजबूर कर दिया था। इधर रामू का हाथ रूबी के चूतरों की सैर कर रहा था। बीच-बीच में वो मोटी गाण्ड को अपने हाथ में लेकर मसल भी रहा था जिससे रूबी अपने काबू से बाहर होती जा रही थी। हालांकी वो अपने एक हाथ से राम के हाथ को जो की रूबी के चूतरों पे था, पकड़कर हटाने की कोशिश भी कर रही थी। पर उसके विरोध में कोई जान नहीं थी।

उधर रामू रूबी के रसभरे होंठों को चूसने में मशरूफ था और बेकाबू होता जा रहा था। उसे लगा की रूबी अब उसके काबू में है और वो उसे भोग सकता है। उसे कमलजीत की जो की बाहर कुछ काम कर रही थी, बिल्कुल भी परवाह नहीं थी। उसे तो बस रूबी की चूत चाहिए थी। रूबी भी अभी तक राम के होंठों का रस पीने में मशरूफ थी। तभी घर के मुख्य दरवाजे के बंद होने की आवाज आई।

रूबी इस आवाज से अपने होश में आई और उसे समझ में आया की कमलजीत घर के अंदर आ गई है और कभी भी उसे इस हालत में देख सकती है। रूबी को यह नहीं मालूम की कमलजीत सीधे अपने रूम में जाती है

और कुछ काम करने लगती है। वो अपने होंठ रामू से अलग कर लेती है और छूटने का प्रयास करती है।

इधर रामू अपनी ही दुनियां में खोया हुआ था और अब रूबी की गर्दन को चूम और चाट रहा था। रूबी अपनी भरपूर कोशिश करती है रामू से अलग होने की पर रामू की ताकत के सामने उसकी नहीं चलती। वो घबरा जाती है की कमलजीत स्टोर में ना आ जये। रूबी रामू के ऊपर ऊपर चिल्ला भी नहीं सकती थी, वरना कमलजीत सुन लेती। वो धीरे-धीरे रामू को अलग होने बोलती है। पर रामू उसकी बात को नजरअंदाज कर देता है। रूबी अब अपना आपा खोने लगती है और उसे राम जिसके लिए वो तड़प रही थी अब उसपे उसे गस्सा आ रहा था। घबराहट में उसके हाथ में एक लोहे की पाइप लग जाती है और वो रामू के चेहरे पे दो-तीन बार मारती है।

रामू इस हमले से कराह उठता है। उसकी पकड़ ढीली पड़ जाती है और रूबी मौके का फायदा उठाकर स्टोर से भाग जाती है। उसे इतना गुस्सा था राम पे की वो जानना नहीं चाहती के उसको चोट तो नहीं लगी। अभी जिस पे उसको सबसे ज्यादा प्यार आ रहा था, उसी को जख्मी कर दिया था। रूबी गुस्से में अपने रूम का दरवाजा बंद कर लेती है। इस गुस्से में वो यह भी भूल जाती है की उसे ऐसा जाते देखकर कमलजीत क्या सोचती? रूम में आने के बाद रूबी अपने सिर को अपने हाथों में लेकर बैठ जाती है, और अपने गुस्से पे काबू पाने की कोशिश करने लगती है।

उधर रामू अभी भी दर्द से तड़प रहा था। उसकी नाक से खून निकलने लगा था और वो वहीं फर्श पर बैठा था।

इधर रूबी की सांसें नार्मल होने लगती हैं, और उसे याद आता है की मम्मीजी भी घर के अंदर ही थी। कहीं उसको ऐसे भागते तो नहीं देख लिया होगा? और रामू, वो कहा है? क्या अभी स्टोर में ही है या चला गया।

तभी कमलजीत अपने कमरे से निकलकर किचेन में आती है और रूबी को आवाज लगाती है। रूबी घबराई हुई कुछ भी जवाब नहीं देती। कमलजीत के दुबारा बुलाने पे भी जब कोई जवाब नहीं आता तो वो किचेन से बाहर आती है और देखती है की रूबी का कमरा बंद है। शायद वो अंदर होगी। अभी वो चार कदम आगे बढ़ती है तभी उसकी नजर स्टोर में पड़ती है, जहां पे रामू फर्श पे बैठा चेहरे को सहला रहा था।

कमलजीत- अरे रामू यहाँ, नीचे क्यों बैठा है?

रामू अपने आपको संभालते हुए- “कुछ नहीं बीवीजी, पैर फिसल गया था और मैं फर्श पे औंधे मुँह गिरा.."

कमलजीत- तेरा तो खून निकल रहा है। रूबी कहां है?
Reply
01-07-2021, 01:20 PM,
#37
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
इधर रूबी उन दोनों की बातें सुन रही थी और उसे अब इस बात की तसल्ली थी की कमलजीत ने उसको ऐसे भागते नहीं देखा था। अब वो ध्यान से दोनों की बातें सुन रही थी।

रामू- पता नहीं छोटी बीवीजी कहां है। मैं तो स्टोर में था।

कमलजीत- रूबी... रूबी कहां हो?

रूबी कोई जवाब नहीं देती। कमलजीत सोचती है की शायद रूबी नहा रही होगी।

कमलजीत- रामू धूप में बैठ बाहर जाकर। मैं तुम्हारे लिए कोई दवा देखती हूँ। पहले रूबी बाहर आ जाए नहाकर।

रामू उठकर बाहर चला जाता है। उसे अब दर्द कम हो गया था। उसे तो अब इस बात का डर था की रूबी उससे काफी नाराज होगी। उसकी बेवकूफी के कारण इतनी खूबसूरत औरत को चोदने का सपना कहीं सपना ही ना बन जाए। अब तो उसे इंतेजार करना था की अब रूबी उससे कैसे पेश आती है? वो बार-बार अपने आपको कोस रहा था की अगर वो सबर से काम लेता तो रूबी को कुछ दिनों में अपनी बना लेता पर उसने उसे आज ही भोगने की कोशिश में सारा खेल बिगड़ दिया।

पर राम करता भी क्या? इतनी खूबसूरत औरत को अपनी बाहों में लेकर वो अपने पे काबू नहीं रख पाया था। अब तो रूबी पे था वो क्या कदम लेती है? अंदर से राम घबराया भी था की रूबी कहीं किसी को बता ना दे उसका। वो तो मालेकिन है उसका तो सभी यकीन करेंगे।

उधर रूबी अंदर नहाने लगी थी। जब वो कुछ देर और कमरे से बाहर नहीं आई तो कमलजीत ने दुबारा से आवाज लगाई। रूबी ने इस बार हिम्मत करके जवाब दिया। कमलजीत रूबी के कमरे की तरफ जाती है और दरवाजा खोलती है और देखती है की रूबी अखबार पढ़ रही थी।

कमलजीत- अरे बहू नहा रही थी क्या?

रूबी अपने डर पे काबू करते हुए- “जी मम्मीजी..”
Reply
01-07-2021, 01:21 PM,
#38
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
कमलजीत- अच्छा ठीक है। मैं तुम्हें आवाजें लगा रही थी।

रूबी अंजान बनते हुए- “क्या हुआ मम्मीजी? कोई काम था?”

कमलजीत- अरे तुम तो नहा रही थी और इधर राम का पैर फिसल गया और उसे चोट लगी है। उसकी नाक से खून बह रहा है। उसे कोई दवाई वगेरा या मरहम है तो दे दे।

रूबी- ठीक है मम्मीजी। मैं आपको देती हूँ मेडिसिन।

कमलजीत- अरे नहीं तू खुद ही दे दे। मुझे किचेन में काम है। वो बाहर ही बैठा है। जा उसे दे दे और मेरे साथ आकर किचेन में हाथ बटाना।

रूबी जो की रामू का सामना नहीं करना चाहती और अभी भी रामू पे गुस्सा है। किसी तरह अपने मन को समझाकर दवाई ढूँढने लगती है और दर्द की गोली और मरहम लेकर बाहर आती है। बाहर रामू फर्श पे बैठा हुआ था और रूबी को देखकर अपनी आँखें झुका लेता है। रूबी भी उससे अपनी नजरें नहीं मिलाती और उसके पास दर्द की गोली और मरहम रखकर वापिस लौट जाती है।

उसके व्यवहार से रामू समझ जाता है की रूबी अभी भी गुस्से में है। अब तो उसके गुस्से के ठंडा होने का इंतेजार करना होगा और कोई ऐसी हरकत नहीं करनी होगी जिससे उसको अपने उससे हाथ धोना पड़े। अभी चार दिन पड़े हैं, 15 दिन होने में और सीमा के वापिस काम पे आने में। शायद तब तक कुछ बात बन जाए और रूबी उसे माफ कर दे। यही सोचता हुआ रामू अपने कमरे में आ जाता है।

रात को भी जब वो खाना लेने जाता है तो रूबी उससे कुछ नहीं बोलती और उसकी प्लेट में खाना डालकर उसे दे देती है। राम भी चुपचाप रहता है और कोई बात नहीं करता। वो अब कल का इंतेजार करता है जब वो सफाई करने घर में आएगा। रात को सोने के टाइम वो इस उम्मीद में रूबी के कमरे की तरफ जाता है की शायद उसे आज फिर रूबी अपनी चूत ठंडी करती दिख जाए। पर वहां पर पहुँचने पे देखता है की रूबी सोई हुई है।

राम उदास मन से वापिस आ जाता है और सोने की कोशिश करता है। अगले दिन जब सफाई का टाइम आता है तो कमलजीत राम को सफाई करने के लिए बोलती है। राम समझ नहीं पाता की आज रूबी दिखाई क्यों नहीं दे रही? और बड़ी बीवीजी क्यों उससे सफाई को बोल रही है? वो अधूरे मन से सफाई करने की कोशिश करता है पर उसका दिल तो बार-बार रूबी के दीदार के लिए तड़प रहा था। उसे लग रहा था की अभी रूबी आएगी और अपने मुश्कुराते चेहरे से उससे बातें करेगी। पर ऐसा कुछ नहीं हुआ।
Reply
01-07-2021, 01:21 PM,
#39
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
कुछ देर बाद उसने देखा की रूबी अपने रूम से बैग लेकर निकलती है और उससे बिना नजर मिलाए बड़ी मालेकिन से बातें करने लगती है।

कमलजीत- बहू ध्यान से जाना। यह अभी तुम्हें छोड़ आएंगे।

रूबी- जी मम्मीजी।

कमलजीत- और हाँ घर पहुँच के मुझे फोन कर देना।

रूबी- जी मम्मीजी।

कमलजीत हँसते हुए- "तुम्हारे बिना दिल नहीं लगेगा हमारा। कोशिश करना जल्दी वापिस आ जाओ।

रूबी- ठीक है मम्मीजी। आप अपना ख्याल रखना मैं रोज आपको फोन करूंगी।

तभी हरदयाल बाहर निकलता है और रूबी कमलजीत के पैर छूकर बिना रामू की तरफ देखकर बाहर निकल जाती है। कमलजीत भी पीछे-पीछे बाहर जाती है।

रामू हरदयाल और रूबी को गाड़ी में बैठते देखता है और फिर गाड़ी उसकी नजरों से दूर हो जाती है। रामू रूबी को जाते देखकर उदास हो जाता है। वो समझ जाता है की रूबी अपने मायके जा रही थी। पर क्या छोटी मालेकिन अभी भी उससे नाराज थी, जो उससे नजरें नहीं मिलाई? और क्या मायके जाने का प्लान रात को ही बना था या फिर पहले से जाना था? बड़ी मुश्किल से वो दिन निकला था राम का। ना तो उसका सफाई में मन लगा और ना ही किसी और काम में। बार-बार उसे ऐसे लगता था की छोटी मालेकिन अभी वापिस आ जाएगी और उससे मुश्कुरा कर बात करेगी।

इधर रूबी का गुस्सा ठंडा पड़ चुका था और वो अपने मायके में अपनी सहेलियों के साथ एंजाय कर कर रही थी। उसे तो रामू की याद भी नहीं आ रही थी। इधर रात को रामू को बुखार हो गया और ठंड में तड़पने लगा।

रूबी ने अगले दिन दोपहर को ससुराल में फोन किया और हालचाल पूछने लगी- "और मम्मीजी सब ठीक है वहां?"

कमलजीत- हाँ बहू सब ठीक है। तुम बताओ मायके में सब खुश है,?

रूबी- जी मम्मीजी।

कमलजीत- ठीक है। और क्या कर रही थी?

रूबी- कुछ नहीं नहाकर फ्री हुई थी और सोचा की आपसे बात कर लूं। आप क्या कर रहे थे मम्मीजी?

कमलजीत- कुछ नहीं बहू सफाई कर रही थी घर की।

रूबी- सफाई?

कमलजीत- हाँ वो रामू को बुखार है तो तुम्हारे ससुर उसे डाक्टर के पास लेकर गये हैं।

रूबी- बुखार?

कमलजीत- हाँ अभी बात हुई थी तुम्हारे पापा से वो बोल रहे थे की जो चोट लगी थी रामू को उससे काम खराब हो गया था। शायद इन्फेक्सन हो गई और काम ज्यादा खराब हो गया। सारी रात ठंड में तड़पता रहा।

रूबी- पर उसे मरहम तो दी थी।

कमलजीत- हाँ, पर पता नहीं क्या हुआ?

रूबी- ओह तो वापिस कब आएंगे पापा?

कमलजीत- कुछ देर में आ जाएंगे।

रूबी- ठीक है। मैं तब फोन करके पूछ लूंगी हालचाल।

कमलजीत- ठीक है
Reply

01-07-2021, 01:21 PM,
#40
RE: Kamukta Story प्यास बुझाई नौकर से
रूबी- ओह तो वापिस कब आएंगे पापा?

कमलजीत- कुछ देर में आ जाएंगे।

रूबी- ठीक है। मैं तब फोन करके पूछ लूंगी हालचाल।

कमलजीत- ठीक है

उस रात रूबी राम के बारे में सोचते हुए काफी परेशान हो गई। रूबी जिसके दिमाग में रामू का ख्याल ही नहीं आया था परसों से, अब अपनी को अपराधी महसूस करने लगी थी। उसे लगा की रामू को उसने कुछ ज्यादा हो जोर से मार दिया था। उसे ऐसा नहीं करना चाहिए था। आग तो दोनों तरफ लगी थी। रामू की गलती इतनी ही तो थी की वो अपने ऊपर काबू नहीं रख पाया था। इसमें उस बेचारे का क्या कसूर था? वो तो एक मर्द है। मर्द से तो सेक्स कंट्रोल करना बहुत मुश्किल होता है। सिर्फ औरत ही कंट्रोल कर सकती है। उस बेचारे ने तो कुदरत के कानून का पालन किया था। आज मेरी वजह से रामू बीमार हो गया है।

रूबी को अब अपने ऊपर गुस्सा आ रहा था। उसे याद आने लगा कैसे रामू ने मासूमियत से उसे किस करने के लिए बोला था। उसकी आँखों में रूबी ने अपने लिए चाहत देखी थी।

राम का चेहरा उसे काफी मासूम लग रहा था। उसकी गलती से आज वो बीमार हो गया था। रूबी के दिल में जो गुस्सा रामू के लिए था अब वो हमदर्दी में बदल चुका था। उसे रामू के होंठों का स्पर्श, उसके हाथों का अपने चूतरों पे घुमाना उसे याद आने लगा। उस एहसास को याद करते-करते रूबी उतेजित होने लगी थी।

उसे समझ में नहीं आ रहा था की वो अब राम का साथ पाने के लिए आगे बढ़े या वही पे अपने को रोक दे।

अपने को रोक के क्या फियदा होगा उसे? अभी तक खुद को रोके ही रखा था, नहीं तो इतने मर्द उसके गाँव में उसे पाना चाहते थे। अगर अभी भी रोक लिया अपने को तो वो घुट-घुट कर मर जाएगी। रामू के लिए उसके दिल में हमदर्दी और प्यार दोनों भावनाओं ने जनम ले लिया था। इस दुबिधा से कैसे निकला जाए, उसे समझ नहीं आ रहा था।

तभी उसे अपनी ननद प्रीति की याद आई। हाँ, वो इस दुबिधा का अंत कर सकती है। प्रीति उसकी सबसे अच्छी दोस्त भी तो थी। उसकी दिल की हालत उससे अच्छा कौन समझ सकता था। रूबी ने डिसाइड कर लिया को वो प्रीति से इस बारे में बात करेगी। उसके बाद रूबी ने रामू के बारे में सोचते हुए अपनी चूत में उंगली डाल दी

और रगड़ने लगी। थोड़ी देर में उसका पानी निकल गया। अगले दिन के इंतेजार में सोचते-सोचते रूबी की आँख लग गई।

अगले दिन रूबी ने सबसे पहले कमलजीत को फोन किया और हालचाल पूछा। असली मकसद तो उसका रामू का हाल पूछने का था। कमलजीत से पता चला की राम को अभी भी बुखार है और डाक्टर ने उसे आराम करने की सलाह दी है।

अब रूबी ने प्रीति को फोन करके दिल की बात बताना चाहा। उसकी हिम्मत नहीं पड़ रही थी। पता नहीं प्रीति क्या सोचेगी मेरे बारे में? उसने नंबर तो निकल लिया प्रीति का, पर हिम्मत नहीं पड़ रही थी। इसी उधेड़बुन में उससे गलती से काल लग गई और उसने झट से काल बंद कर दी। क्या प्रीति को काल मिस चली गई होगी?
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Kamukta kahani कीमत वसूल desiaks 126 49,589 01-23-2021, 01:52 PM
Last Post: desiaks
Star Bahu ki Chudai बहुरानी की प्रेम कहानी sexstories 83 841,449 01-21-2021, 06:13 PM
Last Post: Manish Marima 69
Star Antarvasna xi - झूठी शादी और सच्ची हवस desiaks 50 113,509 01-21-2021, 02:40 AM
Last Post: mansu
Thumbs Up Maa Sex Story आग्याकारी माँ desiaks 155 473,552 01-14-2021, 12:36 PM
Last Post: Romanreign1
Star XXX Kahani अनौखा समागम अनोखा प्यार desiaks 93 65,888 01-02-2021, 01:38 PM
Last Post: desiaks
Lightbulb Mastaram Stories पिशाच की वापसी desiaks 15 22,115 12-31-2020, 12:50 PM
Last Post: desiaks
Star hot Sex Kahani वर्दी वाला गुण्डा desiaks 80 39,081 12-31-2020, 12:31 PM
Last Post: desiaks
Star Porn Kahani हसीन गुनाह की लज्जत sexstories 26 111,806 12-25-2020, 03:02 PM
Last Post: jaya
Star Free Sex Kahani लंड के कारनामे - फॅमिली सागा desiaks 166 279,305 12-24-2020, 12:18 AM
Last Post: Romanreign1
Thumbs Up Hindi Sex Stories याराना desiaks 80 96,636 12-16-2020, 01:31 PM
Last Post: desiaks



Users browsing this thread: 6 Guest(s)