Mastaram Stories हवस के गुलाम
11-03-2020, 12:40 PM,
#11
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
देव गाड़ी में अंजलि के साथ शॉपिंग के लिए बाहर निकल जाता है..

अंजलि:- देव.. ये नोकर रखने की क्या ज़रूरत थी.. में सारा काम तो कर लेती हूँ.. क्यूँ ज़बरदस्ती पैसो को बर्बाद कर रहे हो..

देव: अंजलि.. अंजलि.. तुम ना सच में डफर हो... पगली नोकर अब तुम्हारा काम आसान कर देगा..और तुम माँ का अच्छे से ध्यान रख पाओगी.. और रही बात पैसों की तो पापा की पेन्षन ,मेरी सॅलरी और फिर तुम भी तो कम नहीं कमाती हो तो फिर पैसो का सवाल ही कहाँ पैदा होता है... और फिर यार माँ ने भी तो बोला था नोकर के लिए..

अंजलि: अच्छा.. माँ ने तो गुस्सा होकर कहा था...

देव: अच्छा बाबा ठीक है.. इस महीने इसे रख लेते है फिर हटा देंगे.. खुश...

अंजलि: मुस्कुराते हुए... ठीक है..

बातो बातो में दोनो शॉपिंग माल पहुँच जाते है..

अंजलि: वैसे क्या शॉपिंग करवाने लाए हो..

देव: यार हमारी शादी को 6 महीने हो चुके है ना तो हम लोग ठीक से हनिमून मना पाए ना ही में तुम्हे ठीक से कही बाहर घुमाने ले जा पाया.. तो सोचा आज कुछ शॉपिंग ही करवा दूं...

अंजलि: अच्छा ये बात है तो हुजूर अब आप बीवी की चाकरी करने का प्लान बना रहे है..

देव: इरादा तो कुछ ऐसे ही है..

और दोनो हंसते हुए पार्किंग से माल की ओर चले जाते है..

अंजलि: देव में सोच रही थी क्यूँ ना मैं कुछ अपनी दोनो ननद के लिए भी ले लूँ..

देव: भाई तुम्हारी मर्ज़ी.. बट थोड़ा जल्दी करना ...

अंजलि: जल्दी क्यूँ..

देव:कुछ नहीं बस एवी ही..बोल रहा था..

अंजलि: अच्छा कोई बात नहीं..
और मुस्कुराते हुए माल के दूसरी ओर देखती है..

अंजलि:हे देव वो देखो वो साड़ी कितनी सुंदर है.. चलो ना.. वहाँ देखते है.. शायद कोई न्यू कलेक्षन हो..

देव: अच्छा चलो..

दोनो माल के 1स्ट फ्लोर पर चल देते है..
Reply

11-03-2020, 12:41 PM,
#12
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
अंजलि:- वाउ देव.. लुक यार कितनी अच्छा कलेक्षन नज़र आ रहा है..

देव: ह्म अच्छा सुनो..

अंजलि: बिना देव की और देखे..ह्म बोलो

देव: कुछ नाइट ड्रेस भी ले लेना अपने लिए सेक्सी सी देख कर..

अंजलि:- हाँ यार में तो.. व्हाट.. हहीहहे धीरे से हंसते और मुस्कुराते हुए.. तुम्हारे इरादे तो नेक है हुजूर..

देव: इरादे तो नेक है बट.. गोल्ड को देख कर नियत बिगड़ जाए तो क्या कह सकता हूँ ..

दोनो एक दूसरे की आँखों में देखने लगते है प्यार से और दोनो हंस देते है...

अंजलि: ओके देखते है.. भैया... वो साड़ी दिखाना...प्लीज़..

सेल्स बॉय: जी मॅम...

अंजलि: कॅन आइ ट्राइ दिस साड़ी

सेल्स बॉय:ये मॅम स्योर.. देयर इज अवर ट्राइयल रूम..

अंजलि: थॅंक यू बट व्हेयर ईज़ ब्लाउज..

सेल्स बॉय: सॉरी मॅम वी हॅव कट पीस ऑफ ब्लाउज.. बट इफ़ यू वॉंट वी कॅन अरेंज आ टेलर आंड इट विल बी रेडी विदिन वन वीक..

अंजलि: हाउ मच इट विल बी कॉस्ट..

सेल्स बॉय: मॅम दिस साड़ी ईज़ 2500रूपीज. आंड ब्लाव्ज़ आंड फॉल प्लस टेलर कॉस्ट विल बी 150रुपये.. सो टोटल कॉस्ट विल बी 2650रुपीज ओन्ली..

अंजलि: व्हाट टेलर कॉस्ट इतना कॉस्ट्ली..

सेल्स बॉय..हमारे यहाँ सभी प्रोफेशनल है तो..

अंजलि: इट'स ओके आइ विल अरेंज आउट साइड..
आप मुझे बस कुछ साड़ियाँ और दिखा दीजिए...

Saleem ke man mei ek bahut hi uljhi huyi si bhavnayen janm le rahi thi jis kaaran wo dar bhi raha tha aur romanchit bhi ho raha tha...
Kaam ke pehle hi din jab itna kuch mil jaaye... To khushi to hoti hai.lekin fir bhi saleem is baar darte darte aarti ke room ki taraf badh raha tha... Is baar saleem ne room knock karane ki sochi taaki firse koi gadbad na ho.. aur saleem door knock karta...
Thaakkkkk.. thaakkkkk.thaakkk..
..
..
..
..
..
Andar se koi response nhi aata dekh saleem ek baar fir se door knock karta thoda jor se... Lekin fir se koi response nhi aata..
Lag bhag 5 minute ke intjaar ke baad saleem sochta hai ki andar jaau ya na jaau.. aur fir sochta hai chaay dekar jaldi nikalna hi to hai aur fir ghar ke baaki kaam bhi to hai..
Saleem darwaaje ko halka sa push karta hai darwaja khul jaata hai.....
Saleem andar kadam rakhta hai to wo mantr mugdh sa us haseena ko dekhta reh jaata hai.. jo is waqt mand muskurahat ke saath bistar par so rahi thi...

Saleem uske chehre ko dekh ta reh jaata hai dheere dheere saleem ki nazar uske blowj par aati hai jaha aarti ki chunchiye baahar aane ke liye tadap rahi thi... Aarti ki gehri saanson se uski chunchiye upar niche horahi thi... Saleem thoda aur niche apni nazar le jaata hai to use aarti ki naabhi dikhayi deti hai.. saleem dheere dheere aarti ke kareeb aata hai aur aarti ki naabhi ki gehraayi ko apni aanko se naapne ki koshish karne lagta hai.. fir saleem ki nazar aarti ki kamar jaha par uske ghaaghre ka naada bandha hota ... Saleem ek tak dekhta hai aur jaise jaise saleem ki nazar niche ki aur jaati hai.. saleem dekhta hai ki aarti ka ghaghra uske ghutno tak chada hua tha.. kyu ki aarti apna ek pair sidha kar rakhi thi to dura ghutne se mod rakhi thi.. aur saleem aarti ki pindariyon ki sundarta mei kho jaata hai.. saleem chaay ki Trey ko aarti ke sirahane rakh deta hai aur aarti ke chehre ki aur dekhta hua... Aarti ke pairon ke side mei khada ho jaata hai.. saleem jhuk kar aarti ke pairon par ek kiss karta hai...
Fir aarti ki pindariyon par kiss karta hai... Ab saleem thoda upar aakar aarti ki kamar ko side se kiss karta hai.. ab apna ek haath saleem aarti ke dusri side bed par tika kar aarti ke upar aajata hai.. aur aarti ki naabhi ko ghur ne lagta hai.. is waqt saleem ki ankhon mei hawas ke laal dore tair rahe the..Use bus ab bhog laga na tha.. saleem thoda sa jhuk kar aarti ki naabhi ko kiss karta hai ki.. aarti neend mei thoda sa kasmasati hai.. saleem ab apni jeen nikal kar aarti ki naabhi mei halke se ghumata hai taaki aarti na uthe...Ab saleem apna halka sa thuk nikaal kar aarti ki naabhi mei daal deta hai..
Saleem bahut dheere se aarti ko bolta hai..
Saleem: kitni sundar hai tu.. kaash tu meri ho jaaye.. zindagi se allah kasam aur koi umeed nhi rakhunga mei.. is ghar ki aurton ne meri hawas jaga di.. mere anad ki aag.. meri bhuk bhadka di.. mujhe maaf karna bacchi mei ye sab karna to nhi chahta tha.. lekin mera man mere bus mei nhi raha ab.. jaise teri naabhi ne mera hawas se bhara laar sambhala hai waise hi tera garbh ek din mera beej sambhalega... Aisi umeed karta hu.. ki allah meri madad karega.. tujhe paane mei..
Ab saleem ek baar upar ki taraf aata hai aur aarti ki chunchiyo ki ghaati mei apni jabaan girata hai..
Aarti ko thoda gila gila sa neend mei mehsus hota hai to wo kasmasati hai..
Tabhi saleem girti se aarti ke sirhane aakar
Saleem: memsaab... o... Memsaab
Aarti..Hmm samman hm kon ho tum..
Aur mere room mei kya kar rahe ho..
Aarti ye sab na to chillakar bol rahi thi na hosh mei wo abhi bhi neend mei thi..
Saleem: mei aapka naya nokar hun.. aapke liye chaay laaya hun...
Aarti: hmm rakh do.. didi kaha hai..
Saleem: ji wo to dev babu ke saath baahr gyi huyi hai..
Aarti: are kamya didi kaha haai..
Saleem: ji wo shayad kapde pehan rahi hai..
Aarti ek dum se neend se jaag jaati hai..
Aarti.: What...? Tumhe kaise pata.
Saleem: ji jab mei unke room mei gayya to unhone kaha tha ki taiyaar ho kar niche aa rahi hun..
Saleem.jhut bolte huye muskurata hai..
Aarti accha thik hai tum chalo mei aati hun..
Saleem: ji mem saab..
Saleem chaay ki Trey utha kar waapas ghar ke kaam mei lag jaata hai..

Wahi anjali kaafi khush thi shoping se.. wo mall ke baahar aakar auto ka wait karne lagti hai ki tabhi uske saamne ek gaadi full speed mei aati huyi break laga deti haai..
Anjali muskura deti hai.. muskuraye kyu nhi aakhir uska pati jo aagya tha.. dev..
Dev: hello Mrs. Dev singh.. kya mei aapko.ghar drop kar sakta hun..
Anjali: off course you can.. but only if you will behave like my hubby not a driver..
Anjali ki is baat par dono ek baar to khamosh ho jaate hai fir dev aur anjali dono jor se hansne lagte hai..
Dev: ok madem chale..
Anjali: ji chaliye...
Anjali aur dev lagbhag 45 minute ka safar tay karke ghar pahunchte hai..

Reply
11-03-2020, 12:41 PM,
#13
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
सेल्स बॉय कुछ साड़ियाँ और दिखाता है और अंजलि उनमे से पसंद करके ट्राइ करती जाती है.. अब बिना ब्लाव्ज़ के ट्राइयल रूम की क्या ज़रूरत थी सो वही खड़े खड़े साड़ी अपने कंधे पर लगा कर देख लेती है..

अंजलि: देव यहाँ की शॉपिंग हो गई चलो दूसरी शॉप पर.. मुझे कुछ लेना है..

देव: अंजलि ये मेरा कार्ड पकडो.. मुझे बांके का कॉल आया था मुझे अर्जेंट जाना होगा.. तुम शॉपिंग करो फ्री होते ही कॉल करदेना वन अवर में वापस आ जाउन्गा..

अंजलि: अजीब सा मूह बना कर.. जाओ.. दो कदम आगे जाकर वापस आती है और कार्ड छीन लेती है.. ये उमीद मत रखना कि कार्ड में पैसे बचेंगे..

देव: अंजलि की तरफ देख कर मुस्कुराता रहता है.. और वहाँ से चला जाता है..

अंजलि एक नाइट ड्रेस की शॉप पर चली जाती है और मुस्कुराती रहती है..

अंजलि: एक शॉप पर जाती है जहाँ सेल्स गर्ल होती है..

अंजलि: एक्सक्यूस मी ह्म मुझे कुछ हॉट नाइट ड्रेस चाहिए..

सेल्स गर्ल: मुस्कुराते हुए यस मॅम.. 1स्ट कलेक्षन देख लीजिए इसमें कुछ पसंद हो तो..

अंजलि काफ़ी सारा कलेक्षन देख कर कुछ ड्रेस पसंद कर लेती है..

अंजलि: मॅम ये पॅक कर दीजिए ..

अंजलि कार्ड से अपनी सारा बिल पे कर देती है अंजलि कामया और आरती के लिए भी कुछ ड्रेस लेती है...
उसके बाद अंजलि को देव याद आता है...

यार औरतें शॉपिंग पर क्या जाती हैं बच्चो को और पति को भूल सी जाती हैं.. खेर इसे याद तो आया ..
अंजलि देव के लिए भी एक अच्छी सी ड्रेस ले लेती है..
...,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

वही दूसरी और घर पर..सलीम हॉट हो जाता है.. क्यूँ और कैसे ये तो अगला पोस्ट ही बताएगा.

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
11-03-2020, 12:41 PM,
#14
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
अंजलि: हेलो , हेलो देव...

देव: हाँ अंजलि, तुम्हारी शॉपिंग हुई,

अंजलि:हां हो गई... तुम आरहे हो या मुझे टॅक्सी करके जाना पड़ेगा..

देव: हेलो अंजलि, तुम्हारी आवाज़ काट रही है, सुनो, में 10-15 मिनिट में माल पहुँचता हूँ,

अंजलि: हेलो देव, देव,

देव: हेलो, हे.. आन... ज...पह..
कॉल डिसकनेक्ट हो जाता है..
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

.
वही दूसरी और घर पर..

सलीम नया काम पाकर बहुत खुश होता है.. लेकिन साथ ही अपने पिछले काम को भी याद करता है,... हर रोज न्यी लड़की, नयी नयी चूंचिया, कोई कठोर, तो कोई सॉफ्ट, कोई बड़ी, तो कोई कच्ची उमर...

लेकिन इस काम में पैसा बहुत अच्छा है, काश मेरा लड़कियों का शौक भी पूरा हो जाए... अरे यार सलीम इतना पैसा कमाएगा तो रात को रान्ड आराम से चोदना...

यही सोचते हुए सलीम सबसे पहले चाय बनाता है,

सलीम: चाय देने... सबसे पहले देव की माँ के पास जाता है,

सलीम: मेम्साब, चाय,...

सुलोचना: ह्म हाँ रख दो...

सलीम चाय देकर सुलोचना के कमरे से बाहर निकलने वाला ही था कि,
सुलोचना: अरे सुनो, तुम यहाँ नये काम करने वाले नोकर हो ना,

सलीम: (नोकर साली...) जी मेम्साब

सुलोचना :अच्छा तो उपर कमरे में कामया और आरती को भी चाय दे देना,,

सलीम : जी मेम्साब...

सलीम किचन से चाय ट्रे में रख कर उपर चला जाता है... वहाँ 3 कमरे थे एक कामया का, एक आरती का , एक खाली स्टोर रूम टाइप,..

सबसे पहले सलीम जिस रूम में जाता है वो लास्ट वाला रूम था, ये रूम कामया का था...

सलीम बिना दरवाजा नॉक किए ही अंदर चला जाता है जहाँ... कामया को देख कर सलीम सकपका जाता है वही कामया घबरा जाती है...

इस वक़्त कामया नहा कर बाथरूम से बाहर निकली ही थी..

कि अचानक सलीम को अपने बेडरूम में देख कर कामया डर जाती है...

सलीम की शक्ल के अलावा कामया ये भी नहीं देख पाती कि सलीम के हाथ में चाय की ट्रे है...और कामया ज़ोर से चीखने वाली ही होती है कि..

सलीम:मेड्म डरिये मत, में आपके यहाँ काम करने नया आया हूँ... ये चाय के लिए बड़ी मेम्साब ने भेजा था...

कामया इस वक़्त फिर से पसीना में नहा गयी थी.. वो एक टक सलीम को देखती रहती है.. उसके मूह से अब आवाज़ भी नही निकलती..

सलीम चाय रख कर दरवाजे तक आता है और फिर घूम कर बोलता है..
सलीम: मेड्म अब आप अपना टवल उपर उठा सकती है.. में बाहर जा रहा हूँ..

कामया: सलीम की बात एक बार तो समझ नहीं पाती लेकिन तुरंत ही उसे एहसास हो जाता है कि डर की वजह से वो एक दम नंगी सलीम के सामने पिछले 2-3 मिनिट से खड़ी है..

सलीम: रूम से बाहर जा चुका था लेकिन उसका तंबू पूरी फॉर्म में आगया था...

उधर कामया जल्दी से अपना टवल उठा कर बढ़ती है और साथ ही खुद पर गुस्सा करती है कि उसने दरवाजा लॉक क्यूँ नहीं किया, ये तो काम वाला अंदर आगया, भैया भी तो आ सकते थे... ये मुझसे कितनी बड़ी ग़लती हो गई...और ये भी मूह उठाए अंदर आगया नॉक तो कर सकता था ना.. उस दो कोड़ी के नोकर ने मुझे किस हालत में देख लिया.. अब कामया रोने वाली सी हो गई थी.. लेकिन फिर भी जल्दी से कामया तैयार होने लगती है..

अब सलीम दूसरे रूम की ओर जा रहा है जहाँ आरती है...

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Dev: hello Mrs. Dev singh.. kya mei aapko.ghar drop kar sakta hun..
Anjali: off course you can.. but only if you will behave like my hubby not a driver..
Anjali ki is baat par dono ek baar to khamosh ho jaate hai fir dev aur anjali dono jor se hansne lagte hai..
Dev: ok madem chale..
Anjali: ji chaliye...
Anjali aur dev lagbhag 45 minute ka safar tay karke ghar pahunchte hai..

AB AAGE:-

Dev aur anjali jaise hi ghar pahunchte hai to chonk jaate hai..
Dev;: lagta hai hum masti masti mei kisi aur ke ghar pahunch gaye...
Chalo waapas chalte hai..
Anjali:- are ruko to andar dekho photo to babuji ki lagi huyi hai...
Dev: hmm haan matlab ye ghar to humara hi hai lekin ye achanak se itna accha I mean bagla kaise ban gaya..
Anjali: lagta hai aaj kamya aur aarti ne sazaya hai..
Dev: wo dono..
Tabhi saleem:-
Saleem: Aayiye dev babu...
Dev: saleem ye sab kya hai.. is ghar ko kisne aisa kiya..Ungli karke gusse se puchta hai..
Saleem bhi dev ke saath ghar ki aur dekhta hai..

Saleem: thoda sa ghabra jaata hai fir bhi.. kya baat hai dev baabu... Kuch galat kardiya kya meine..
Dev aur anjali dono bhonkte huye..
Kya ye sab tumne kiya akele...
Saleem: ji ye meine kiya kyu kya hua kuch galat kiya kya..
Dev: nhi bahut accha kiya.. aaj ke baad ghar aisa hi saja hua milna chahiye..
Saleem: ji dev babu..
Saleem;: anjali.. tumhare liye... Mera matlab.. anjali ji.. aapke liye ... Thoda sa soch kar ghar waalo ke liye khana bana diya hai aap ek baar dekh lijiyega..
Anjali:- ji dikhayi ye.. thoda sa masti ke mood anjali saleem se bolti hai..
Anjali aaj shoping ki wajha se kaafi khush thi upar se ghar ka nokar bhi kaam accha kar raha tha to uski kaafi tension khtm ho gyi thi to usne bhi saleem se majaak kar li..Lekin ye majaak anjali ko bhaari padne waali thi..
Saleem: aap khud dekh lijiye na.. agar pasand aajaye to le lena..
Anjali: saleem ki taraf dekhti haai to saleem ka haath uske khade lund ko dehla rahaa tha..
Anjali jhenp jaati hai air kitchen mei jaati hai.. lekin use waha kuch nhi dikhaayi deta..
Anjali:yaha to kuch nhi hai..
Saleem kutil muskaan ke saath dekhta hai aur fir se apne lund ko malta hai..
Saleem: ab aapko jo chahiye wo itni door kaise milega.. mere paas aayiye mei khud de deta hun..
Tabhi waha dev aajata hai..
Dev: kya hua anjali kya chahiye tumhe saleem se..?
Anjali: ji ji wo..(anjali ko kuch samajh nhi aata ki kya bole... Saleem ke ishare ke hisaab se to lund hai lekin anjali to khana dhund rahi thi lekin hadbadahat mei use kuch nhi sikhta)
Tabhi saleem bol deta hai..
Saleem: maalik anjali ji ko khana dekhna tha to meine kaha mei paros deta hu..
Tab dekh lijiyega ki kaisa bana hai.. aayi ye mei dikhata hu aaj kya kya pakaya hai...

Dev:. Wooow .. itna khana .. air ye sab..
Anjali: but itna khana .
Dev: tumne ye sab kab aur kaha sikha saleem
Saleem: saab jab se meri aurat mujhe chod kar gyi hai tab se khud hi bana bana kar kha rha hun..
Anjali: tumhari biwi me tumhe kyu choda...
Saleem: thoda sa dukhi muh bana kar ab jaane dijiye na anjali ji.. aap baithoge aur khana kha kar batayiye kaisa bana hai.. ..
Saleem dev aur anjali ko chair par bitha deta hai aur anjali ki taraf ek kameeni muskaan ke saath dekhta hai..

Saleem dev aur anjali ko khana paros deta hai..
Anjali: kaka,.. hmm mei aapko kaka bula sakti hun na .
Saleem: ji aaki marji jo chahe bula lijiye..
Dev: hahahaha sahi kaha salim kaka..
Anjali dev aur saleem teeno hansne lag jaate hai..
Tabhi ...
Kis baat par hansa jaa raha hai bhaiya...
Kaamya sidhiyon se utar kar niche aakhiri...
Saleem to kaamya ke badan ko , uske kataav ko, uske badan ke chrhari kataav aur maansal jaanghe, bounce hote mumme, doodh sa safed rang.. chehre par ek bhi til nhi aur muskaan jaise hajaaro.. churiyaan chala di ho..

Dev aur anjali kaamya ki aawaj sunkar piche mudde hai to dono dekhte hi reh jaate hai..
Dev: ye kya pehan rakha hai kaamya.. sharm karo thodi si ab tum bacchi nhi rahi..
Anjali:chup karo.. bacchi hi to hai.. jab dekho daant te rehte ho.. kuch dini mei shaadi karke sasuraal chali jaayegi tab thode hi ye sab naseeb hoga..
Kaamya: bhabhi aap bhi na.. mujhe koi shaadi waadi nhi karni, aur bhaiya.. fashion waqt ke saath change hota hai.. aur change ke saath zamana bhi change hota hai but aap ho ki abhi bhi 90th mei ji rahe ho.. ab fata fat 21th century mei aajao.
Saleem: ji dev babu kaamya ji sahi keh rahi hai.. ye to aajkal ka fashion hai.. itna kehkar saleem kaamya ki chunchiyon ko dekhte huye apne lund ko kapdo ke upar se hi masal deta hai..
Kaamya: saleem ki harkat dekh leti hai lekin uske paksh mei bolne ke kaaran saleem ko kuch nhi bolti...
Kaamya;: bhaiya aapne naya nokar rakh liya... Bataya bhi nhi..
DevConfusedab ke liye surprise tha ...
Anjali: kaam bhi accha karte hai kaka..
Dev aur anjali fir se kaka bolne par hasne lagte hai..
Kaamya: kaka mujhe bhi paros do khana..
Kaamya bhi khil khilane lag jaati hai..
Saleem:lagta hai ab dev baabu ab hume kaka sun ne ki aadat daali padegi..
Hahahaha sabhi hasne lag jaate hai..
Saleem: kaamya ko chedne ke iraade se aur fasane ke liye kaamya se puch ta hai..
Saleem: kaamya ji subha kaisi rahi aaj aapki..
Kaamya: paani pi rahi thi ki saleem ke sawal paani atal jaata hai. Uh uh khon ..Ji. kya..
Hmm acchi thi..
Saleem:aachi mujhe to had se jyada khubsurat lagi kaash aisi subha meri roj ho..
Kaamya: gusse se saleem ki taraf dekhne lagti hai..
Dev aur anjali ko. Kuch samajh nhi aata..To dev puch baitha..
Dev;: kya baat hai subha itni rangeen kaise huyi kaka..
Saleem: wo kya haina jab mei chaay lekar kaamya ji ke room mei pahuncha to..
Kaamya.. wo bhaiya.. mei college ja rahi hun mera tiffin ready kardo saleem kaka.. saleem kaka thoda daant kheench kar aur aankhen dikhate huye kaamya bolti haai..
Saleem bhi thoda sa kaamyabi par muskurata hua chala jaata haai..
Anjali ko kuch gadbad lagne laga tha but kya ye samajh nhi paa rahi thi. Ki tabhi dev ka phone baj ta hai..
Dev: hello..
Banake: hello dev sir.. hume 1 mahine ke liye goa police ke saath kaam karne ke liye order aaye haai...
Dev: what lekin kyu..
BanakeConfusedir ye to upar se order hai to kuch pata nhi..
Dev: thik hai mei aata hun thodi der mei..
Baanke:Ji sir..
Phone kaat kar dev baahar jaate huye bolta haai..
Dev: anjali mera saaman ready kar dena one month ka.. shayad mujhe goa jaanna pad jaaye waise koshish karta hu na jana pade
Anjali: are lekin yu achanak..
Tab tak dev ja chuka tha..
Udhar kaamya kitchen mei ghuskar saleem ka collor pakad leti hai aur bolti haai..
Kamaya:agr dubaara muh khola na to muh tod dungi..
Saleem: is moke ko kaise jaane deta.
Saleem: agar aap roj subha meri aaj ki traha kar de to kon kambkhat muh khole..
Kaamya: apni heal se saleem ke pairo ko daba deti hai..
Saleem. Dard de tadap uthta hai.. kaamya saleem ko dard mei tadapta chod kar baahar aajati hai..
Saleem thoda sa langdata hua baahar aata haai aur ji aapka tiffin kaamya ji..
Kaamya: thank you.. aur ek kaamyabi ki muskaan deti hai..
Saleem man mei bolta hai..Saali tujhe to mei langdi ghodi bana kar na choda na to mera naam bhi saleem nhi..
Aur kaamya ko jaate huye gaand dekhne lagta hai..
Tabhi anjali k hansne ki acting karti hai..
Anjali: humm uhrrhe..Kya ho raha hai..
Saleem: anjali ji aapki nanad kaafi khubsurat hai..
Anjali: jaanti hun.
Saleem: aur aap bhi..
Anjali: sharma jaati hai..
Ab saleem plan banane lagta haiki kaise is ghar ki aurton ko apne niche laaye.. aur sab se pehle kisi.. saleem: man mei jaal to sab par fenk kar dekhta hun dekhte hai kon pat ti hai pehle..
Sabse pehle to mujhe open hona padega aur in sabki sharm bhi dur karni padegi.. lekin kaise .... Kuch to soch saleem.. ab bardasht nhi hota..
Tabhi anjali bol padti hai..
Anjali: kya soch rahe ho kaka.. aapne bataya nhi aapki wife ne aapko kyu choda..
Saleem:chonkte huye apne khwabo se baahar aata haai..
Saleem: ji anjali ji kya bol rahi thi aap..
Anjali: kaka mei puch rahi thi bol nhi rahi thi..
Saleem;:, muskurate hue...
Saleem: kya puch rahi thi anjali ji..
Anjali: wo kaka aapki wife ne aapko kyu choda..
Ab saleem ke dimaag ke ghode goli ki raftaar se daudne lage the.

Reply
11-03-2020, 12:45 PM,
#15
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
उधर कामया जल्दी से अपना टवल उठा कर बढ़ती है और साथ ही खुद पर गुस्सा करती है की उसने दरवाजा लॉक क्यूँ नहीं किया, ये तो काम वाला अंदर आगया, भैया भी तो आ सकते थे... ये मुझसे कितनी बड़ी ग़लती हो गई...एर ये भी मूह उठाए अंदर आगया नॉक तो कर सकता था ना.. उस दो कोड़ी के नोकर ने मुझे किस हालत में देख लिया.. अब कामया रोने वाली सी हो गई थी.. लेकिन फिर भी जल्दी से कामया तैयार होने लगती है..
अब सलीम दूसरे रूम की ओर जा रहा है जहाँ आरती है...

अब आगे...

सलीम के मन में एक बहुत ही उलझी हुई सी भावनाएँ जन्म ले रही थी जिस कारण वो डर भी रहा था और रोमांचित भी हो रहा था...
काम के पहले ही दिन जब इतना कुछ मिल जाए... तो खुशी तो होती है.लेकिन फिर भी सलीम इस बार डरते डरते आरती के रूम की तरफ बढ़ रहा था... इस बार सलीम ने रूम नॉक करने की सोची ताकि फिरसे कोई गड़बड़ ना हो.. और सलीम डोर नॉक करता...
ठाककककक.. ठाककककक.ठाककक..
..
..
..
..
..
अंदर से कोई रेस्पॉन्स नहीं आता देख सलीम ने एक बार फिर से डोर नॉक किया थोड़ा ज़ोर से... लेकिन फिर से कोई रेस्पॉन्स नहीं आता..
लग भग 5 मिनिट के इंतजार के बाद सलीम सोचता है कि अंदर जाउ या ना जाउ.. और फिर सोचता है चाय देकर जल्दी निकलना ही तो है और फिर घर के बाकी काम भी तो है..

सलीम दरवाजे को हल्का सा पुश करता है दरवाजा खुल जाता है.....

सलीम अंदर कदम रखता है तो वो मंत्र मुग्ध सा उस हसीना को देखता रह जाता है.. जो इस वक़्त मंद मुस्कुराहट के साथ बिस्तर पर सो रही थी...

सलीम उसके चेहरे को देख ता रह जाता है धीरे धीरे सलीम की नज़र उसके ब्लाउज पर आती है जहाँ आरती की चूंचियाँ बाहर आने के लिए तड़प रही थी... आरती की गहरी साँसों से उसकी चूंचियाँ उपर नीचे होरही थी... सलीम थोड़ा और नीचे अपनी नज़र ले जाता है तो उसे आरती की नाभि दिखाई देती है.. सलीम धीरे धीरे आरती के करीब आता है और आरती की नाभि की गहराई को अपनी आँखो से नापने की कोशिश करने लगता है.. फिर सलीम की नज़र आरती की कमर जहाँ पर उसके घाघरे का नाडा बँधा होता ... सलीम एक टक देखता है और जैसे जैसे सलीम की नज़र नीचे की और जाती है.. सलीम देखता है कि आरती का घाघरा उसके घुटनो तक चढ़ा हुआ था.. क्यूँ कि आरती अपना एक पैर सीधा कर रखी थी तो दूसरा घुटने से मोड़ रखी थी.. और सलीम आरती की पिंडलियों की सुंदरता में खो जाता है.. सलीम चाय की ट्रे को आरती के सिरहाने रख देता है और आरती के चेहरे की ओर देखता हुआ... आरती के पैरों के साइड में खड़ा हो जाता है.. सलीम झुक कर आरती के पैरों पर एक किस करता है...

फिर आरती की पिंडलियों पर किस करता है... अब सलीम थोड़ा उपर आकर आरती की कमर को साइड से किस करता है.. अब अपना एक हाथ सलीम आरती के दूसरी साइड बेड पर टिका कर आरती के उपर आजाता है.. और आरती की नाभि को घूर ने लगता है.. इस वक़्त सलीम की आँखों में हवस के लाल डोरे तैर रहे थे..उसे बस अब भोग लगा ना था.. सलीम थोड़ा सा झुक कर आरती की नाभि को किस करता है की.. आरती नींद में थोड़ा सा कसमसाती है.. सलीम अब अपनी जीब निकाल कर आरती की नाभि में हल्के से घुमाता है ताकि आरती ना उठे...अब सलीम अपना हल्का सा थूक निकाल कर आरती की नाभि में डाल देता है..
सलीम बहुत धीरे से आरती को बोलता है..

सलीम: कितनी सुंदर है तू.. काश तू मेरी हो जाए.. ज़िंदगी से माँ कसम और कोई उम्मीद नहीं रखूँगा में.. इस घर की औरतों ने मेरी हवस जगा दी.. मेरे आनंद की आग.. मेरी भूक भड़का दी.. मुझे माफ़ करना बच्ची में ये सब करना तो नहीं चाहता था.. लेकिन मेरा मन मेरे बस में नहीं रहा अब.. जैसे तेरी नाभि ने मेरा हवस से भरा लार संभाला है वैसे ही तेरा गर्भ एक दिन मेरा बीज संभालेगा... ऐसी उमीद करता हूँ.. कि ऊपर वाला मेरी मदद करेगा.. तुझे पाने में..

अब सलीम एक बार उपर की तरफ आता है और आरती की चूंचियो की घाटी में अपनी ज़बान चलाता है..

आरती को थोड़ा गीला गीला सा नींद में महसूस होता है तो वो कसमसाती है..

तभी सलीम जल्दी से आरती के सिरहाने आकर

सलीम: मेम्साब... ओ... मेमसाब

आरती..ह्म ह्म कॉन हो तुम.. और मेरे रूम में क्या कर रहे हो..

आरती ये सब ना तो चिल्लाकर बोल रही थी ना होश में वो अभी भी नींद में थी..
Reply
11-03-2020, 12:45 PM,
#16
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
सलीम: में आपका नया नोकर हूँ.. आपके लिए चाय लाया हूँ...

आरती: ह्म रख दो.. दीदी कहाँ है..

सलीम: जी वो तो देव बाबू के साथ बाहर गई हुई है..

आरती: अरे कामया दीदी कहाँ है..

सलीम: जी वो शायद कपड़े पहन रही है..

आरती एक दम से नींद से जाग जाती है..
आरती.: व्हाट...? तुम्हे कैसे पता.

सलीम: जी जब में उनके रूम में गया तो उन्होने कहा था कि तैयार हो कर नीचे आ रही हूँ..
सलीम.झूठ बोलते हुए मुस्कुराता है..

आरती अच्छा ठीक है तुम चलो में आती हूँ..

सलीम: जी मेम साब..

सलीम चाय की ट्रे उठा कर वापस घर के काम में लग जाता है..
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

वही अंजलि काफ़ी खुश थी शॉपिंग से.. वो माल के बाहर आकर ऑटो का वेट करने लगती है कि तभी उसके सामने एक गाड़ी फुल स्पीड में आती हुई ब्रेक लगा देती है..

अंजलि मुस्कुरा देती है.. मुस्कुराए क्यूँ नहीं आख़िर उसका पति जो आगया था.. देव..

देव: हेलो .. देव सिंग.. क्या में आपको.घर ड्रॉप कर सकता हूँ..

अंजलि: ऑफ कोर्स यू कॅन.. बट ओन्ली इफ़ यू विल बिहेव लाइक माइ हब्बी नोट आ ड्राइवर..

अंजलि की इस बात पर दोनो एक बार तो खामोश हो जाते है फिर देव और अंजलि दोनो ज़ोर से हँसने लगते है..

देव: ओके मेड्म चले..

अंजलि: जी चलिए...

अंजलि और देव लगभग 45 मिनिट का सफ़र तय करके घर पहुँचते है..

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

Reply
11-03-2020, 12:45 PM,
#17
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
देव: हेलो मिसेज़. देव सिंग.. क्या में आपको.घर ड्रॉप कर सकता हूँ..

अंजलि: ऑफ कोर्स यू कॅन.. बट ओन्ली इफ़ यू विल बिहेव लाइक माइ हब्बी नोट आ ड्राइवर..

अंजलि की इस बात पर दोनो एक बार तो खामोश हो जाते है फिर देव और अंजलि दोनो ज़ोर से हँसने लगते है..
देव: ओके मेड्म चले..
अंजलि: जी चलिए...
अंजलि और देव लगभग 45 मिनिट का सफ़र तय करके घर पहुँचते है..

अब आगे:-

देव और अंजलि जैसे ही घर पहुँचते है तो चोंक जाते है..

देव;: लगता है हम मस्ती मस्ती में किसी और के घर पहुँच गये...
चलो वापस चलते है..

अंजलि:- अरे रूको तो अंदर देखो फोटो तो बाबूजी की लगी हुई है...

देव: ह्म हां मतलब ये घर तो हुमारा ही है लेकिन ये अचानक से इतना अच्छा आइ मीन बंगला कैसे बन गया..
अंजलि: लगता है आज कामया और आरती ने सज़ाया है..

देव: वो दोनो..

तभी सलीम:-
सलीम: आइए देव बाबू...

देव: सलीम ये सब क्या है.. इस घर को किसने ऐसा किया..उंगली करके गुस्से से पूछता है..
सलीम भी देव के साथ घर की ओर देखता है..

सलीम: थोड़ा सा घबरा जाता है फिर भी.. क्या बात है देव बाबू... कुछ ग़लत कर दिया क्या मेने..

देव और अंजलि दोनो चौंकते हुए..
क्या ये सब तुमने किया अकेले...

सलीम: जी ये मेने किया क्यूँ क्या हुआ कुछ ग़लत किया क्या..

देव: नहीं बहुत अच्छा किया.. आज के बाद घर ऐसा ही सज़ा हुआ मिलना चाहिए..

सलीम: जी देव बाबू..

सलीम;: अंजलि.. तुम्हारे लिए... मेरा मतलब.. अंजलि जी.. आपके लिए ... थोड़ा सा सोच कर घर वालो के लिए खाना बना दिया है आप एक बार देख लीजिएगा..

अंजलि:- जी दिखाइए .. थोड़ा सा मस्ती के मूड अंजलि सलीम से बोलती है..

अंजलि आज शॉपिंग की वजह से काफ़ी खुश थी उपर से घर का नोकर भी काम अच्छा कर रहा था तो उसकी काफ़ी टेन्षन ख़त्म हो गई थी तो उसने भी सलीम से मज़ाक कर ली..लेकिन ये मज़ाक अंजलि को भारी पड़ने वाली थी..

सलीम: आप खुद देख लीजिए ना.. अगर पसंद आजाए तो ले लेना..

अंजलि: सलीम की तरफ देखती है तो सलीम का हाथ उसके खड़े लंड को सहला रहा था..

अंजलि झेंप जाती है और किचन में जाती है.. लेकिन उसे वहाँ कुछ नहीं दिखाई देता..

अंजलि:यहाँ तो कुछ नहीं है..

सलीम कुटिल मुस्कान के साथ देखता है और फिर से अपने लंड को मलता है..
सलीम: अब आपको जो चाहिए वो इतनी दूर कैसे मिलेगा.. मेरे पास आइए में खुद दे देता हूँ..

तभी वहाँ देव आजाता है..

देव: क्या हुआ अंजलि क्या चाहिए तुम्हे सलीम से..?

अंजलि: जी जी वो..(अंजलि को कुछ समझ नहीं आता कि क्या बोले... सलीम के इशारे के हिसाब से तो लंड है लेकिन अंजलि तो खाना ढूँढ रही थी लेकिन हड़बड़ाहट में उसे कुछ नहीं सूझता)

तभी सलीम बोल देता है..
सलीम: मालिक अंजलि जी को खाना देखना था तो मेने कहा में परोस देता हूँ..
तब देख लीजिएगा कि कैसा बना है.. आइए में दिखाता हू आज क्या क्या पकाया है...

देव:. वूओव .. इतना खाना .. और ये सब..

अंजलि: बट इतना खाना .

देव: तुमने ये सब कब और कहाँ सीखा सलीम

सलीम: साब जब से मेरी औरत मुझे छोड़ कर गई है तब से खुद ही बना बना कर खा रहा हूँ..

अंजलि: तुम्हारी बीवी मे तुम्हे क्यूँ छोड़ा...

सलीम: थोड़ा सा दुखी मूह बना कर अब जाने दीजिए ना अंजलि जी.. आप बैठो और खाना खा कर बताइए कैसा बना है.. ..

सलीम देव और अंजलि को चेयर पर बिठा देता है और अंजलि की तरफ एक कमीनी मुस्कान के साथ देखता है..

सलीम देव और अंजलि को खाना परोस देता है..

अंजलि: काका,.. ह्म में आपको काका बुला सकती हूँ ना .

सलीम: जी आपको मर्ज़ी जो चाहे बुला लीजिए..

देव: हाहहाहा सही कहा सलीम काका..

अंजलि देव और सलीम तीनो हँसने लग जाते है..

तभी ...
Reply
11-03-2020, 12:45 PM,
#18
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
सलीम: जी आपको मर्ज़ी जो चाहे बुला लीजिए..

देव: हाहहाहा सही कहा सलीम काका..

अंजलि देव और सलीम तीनो हँसने लग जाते है..

तभी ...

किस बात पर हंसा जा रहा है भैया...

कामया सीढ़ियों से उतर कर नीचे आख़िरी सीढ़ी पर आती है ,,,,,

सलीम तो कामया के बदन को , उसके कटाव को, उसके बदन के छरहरी कटाव और मांसल जांघे, बाउन्स होते मम्मे, दूध सा सफेद रंग.. चेहरे पर एक भी तिल नहीं और मुस्कान जैसे हज़ारो.. छुरियाँ चला दी हो..

देव और अंजलि कामया की आवाज़ सुनकर पीछे मुड़ते है तो दोनो देखते ही रह जाते है..

देव: ये क्या पहन रखा है कामया.. शर्म करो थोड़ी सी अब तुम बच्ची नहीं रही..

अंजलि:चुप करो.. बच्ची ही तो है.. जब देखो डाँट ते रहते हो.. कुछ दीनो में शादी करके ससुराल चली जाएगी तब थोड़े ही ये सब नसीब होगा..

कामया: भाभी आप भी ना.. मुझे कोई शादी वादी नहीं करनी, और भैया.. फॅशन वक़्त के साथ चेंज होता है.. और चेंज के साथ ज़माना भी चेंज होता है बट आप हो कि अभी भी 90थ में जी रहे हो.. अब फटा फट 21थ सेंचुरी में आ जाओ.

सलीम: जी देव बाबू कामया जी सही कह रही है.. ये तो आजकल का फॅशन है.. इतना कहकर सलीम कामया की चूंचियों को देखते हुए अपने लंड को कपड़ो के उपर से ही मसल देता है..

कामया: सलीम की हरकत देख लेती है लेकिन उसके पक्ष में बोलने के कारण सलीम को कुछ नहीं बोलती...

कामया;: भैया आपने नया नोकर रख लिया... बताया भी नहीं..

देव:सब के लिए सर्प्राइज़ था ...

अंजलि: काम भी अच्छा करते है काका..

देव और अंजलि फिर से काका बोलने पर हँसने लगते है..

कामया: काका मुझे भी परोस दो खाना..

कामया भी खिल खिलाने लग जाती है..

सलीम:लगता है अब देव बाबू अब हमे काका सुन ने की आदत डाली पड़ेगी..

हाहहाहा सभी हँसने लग जाते है..
Reply
11-03-2020, 12:45 PM,
#19
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
सलीम: कामया को छेड़ने के इरादे से और फसाने के लिए कामया से पूछ ता है..
सलीम: कामया जी सुबह कैसी रही आज आपकी..

कामया: पानी पी रही थी कि सलीम के सवाल पानी अटक जाता है. उः उः खों ..जी. क्या..
ह्म अच्छी थी..

सलीम:आच्ची मुझे तो हद से ज़्यादा खूबसूरत लगी काश ऐसी सुबह मेरी रोज हो..

कामया: गुस्से से सलीम की तरफ देखने लगती है..

देव और अंजलि को. कुछ समझ नहीं आता..तो देव पूछ बैठा..
देव;: क्या बात है सुबह इतनी रंगीन कैसे हुई काका..

सलीम: वो क्या हैना जब में चाय लेकर कामया जी के रूम में पहुँचा तो..

कामया.. वो भैया.. में कॉलेज जा रही हूँ मेरा टिफिन रेडी करदो सलीम काका.. सलीम काका थोड़ा दाँत खींच कर और आँखें दिखाते हुए कामया बोलती है..

सलीम भी थोड़ा सा कामयाबी पर मुस्कुराता हुआ चला जाता है..

अंजलि को कुछ गड़बड़ लगने लगा था बट क्या ये समझ नहीं पा रही थी. कि तभी देव का फोन बज ता है..

देव: हेलो..

बांके: हेलो देव सर.. हमे 1 महीने के लिए गोआ पोलीस के साथ काम करने के लिए ऑर्डर आए है...

देव: व्हाट लेकिन क्यूँ..

बांके:सर ये तो उपर से ऑर्डर है तो कुछ पता नहीं..

देव: ठीक है में आता हूँ थोड़ी देर में..

बांके:जी सर..

फोन काट कर देव बाहर जाते हुए बोलता है..

देव: अंजलि मेरा सामान रेडी कर देना वन मंथ का.. शायद मुझे गोआ जाना पड़ जाए वैसे कोशिश करता हूँ ना जाना पड़े

अंजलि: अरे लेकिन यूँ अचानक..

तब तक देव जा चुका था..
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,

उधर कामया किचन में घुसकर सलीम का कॉलर पकड़ लेती है और बोलती है..
कामया:अगर दुबारा मूह खोला ना तो मूह तोड़ दूँगी..

सलीम: इस मोके को कैसे जाने देता.
सलीम: अगर आप रोज सुबह मेरी आज की तरह कर दे तो कॉन कम्बखत मूह खोले..

कामया: अपनी हील से सलीम के पैरो को दबा देती है..

सलीम. दर्द से तड़प उठता है.. कामया सलीम को दर्द में तड़प्ता छोड़ कर बाहर आजाती है..

सलीम थोड़ा सा लंगड़ाता हुआ बाहर आता है और जी आपका टिफिन कामया जी..

कामया: थॅंक यू.. और एक कामयाबी की मुस्कान देती है..

सलीम मन में बोलता है..साली तुझे तो मेने लंगड़ी घोड़ी बना कर ना चोदा ना तो मेरा नाम भी सलीम नहीं..
और कामया को जाते हुए उसकी गान्ड देखने लगता है..

तभी अंजलि हँसने की आक्टिंग करती है..
Reply

11-03-2020, 12:45 PM,
#20
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
तभी अंजलि हँसने की आक्टिंग करती है..

अंजलि: हुम्म उःर्रहे..क्या हो रहा है..

सलीम: अंजलि जी आपकी ननद काफ़ी खूबसूरत है..

अंजलि: जानती हूँ.

सलीम: और आप भी..

अंजलि: शरमा जाती है..

अब सलीम प्लान बनाने लगता हैकि कैसे इस घर की औरतों को अपने नीचे लाए.. और सब से पहले किसे.. सलीम: मन में जाल तो सब पर फेंक कर देखता हूँ देखते है कॉन पट ती है पहले..

सबसे पहले तो मुझे ओपन होना पड़ेगा और इन सबकी शर्म भी दूर करनी पड़ेगी.. लेकिन कैसे .... कुछ तो सोच सलीम.. अब बर्दाश्त नहीं होता..

तभी अंजलि बोल पड़ती है..
अंजलि: क्या सोच रहे हो काका.. आपने बताया नहीं आपकी वाइफ ने आपको क्यूँ छोड़ा..

सलीम:चोन्कते हुए अपने ख्वाबो से बाहर आता है..
सलीम: जी अंजलि जी क्या बोल रही थी आप..

अंजलि: काका में पूछ रही थी बोल नहीं रही थी..

सलीम;:, मुस्कुराते हुए...
सलीम: क्या पूछ रही थी अंजलि जी..

अंजलि: वो काका आपकी वाइफ ने आपको क्यूँ छोड़ा..

अब सलीम के दिमाग़ के घोड़े गोली की रफ़्तार से दौड़ने लगे थे.

सलीम: क्या फ़ायदा अंजलि जी आपको बताने से वो वापस तो नहीं आजाएगी ना.. और वैसे भी जब उपर वाला किसी को कुछ ज़्यादा दे तो लोगो को उसकी कदर नहीं होती...

अंजलि: क्या मतलब?

सलीम: जी कुछ नहीं

अंजलि: काका एक तो आप बात को घुमा फिरा कर बहुत बोलते हो.. सीधे सीधे नहीं बता सकते कि बात क्या थी..

सलीम: थोड़ा उदास हो कर..
अंजलि जी वो मेरी बीवी मुझसे डरती थी... रात को...

अंजलि: डरती थी?.. क्यूँ आप उसे मारते थे..

सलीम: मुस्कुराते हुए जी उसे नहीं मारता था.. लेकिन पति हूँ तो कुछ तो मारना था ही ना..

अंजलि: क्या मतलब... (अंजलि सलीम की बात बिल्कुल भी नहीं समझ पाती..)

सलीम: जी वो रात को जाब हम करते थे तो वो बहुत चिल्लाती थी.. एक दिन वो मायके चली गयी.. उसके 1 महीने इंतजार के बाद मेने तलाक़ दे दिया..

अंजलि: काका आप क्या बोल रहे हो.. मालूम भी है आपको.. क्यूँ कि मुझे सच में कुछ समझ नहीं आ रहा ...

सलीम: थोड़ा सा गुस्सा हो जाता है कि कैसी बेवकूफ़ औरत है... कुछ समझ ही नहीं आता..

सलीम:अंजलि जी अगर खुल कर बताउन्गा तो आप नाराज़ हो जाएँगी..और में ये नोकारी नहीं खोना चाहता.. अब यही एक सहारा है मेरा पेट पालने का..

अंजलि: काका.. नहीं होउंगी नाराज़ आप बताएँ तो सही.. शायद में आपके लिए कुछ कर पाउ...

सलीम: अंजलि जी आप आख़िर क्यूँ मेरे पीछे पड़ी है..

अंजलि: काका आपको मेरी कसम है बताओ तो सही..

सलीम: वो अंजलि जी मेरा कुछ ज़्यादा बड़ा है..
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Heart Chuto ka Samundar - चूतो का समुंदर sexstories 665 2,829,366 11-30-2020, 01:00 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Thriller Sex Kahani - अचूक अपराध ( परफैक्ट जुर्म ) desiaks 89 7,311 11-30-2020, 12:52 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Desi Sex Kahani कामिनी की कामुक गाथा desiaks 456 56,327 11-28-2020, 02:47 PM
Last Post: desiaks
Lightbulb Gandi Kahani सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री desiaks 45 12,438 11-23-2020, 02:10 PM
Last Post: desiaks
Exclamation Incest परिवार में हवस और कामना की कामशक्ति desiaks 145 70,778 11-23-2020, 01:51 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Maa Sex Story आग्याकारी माँ desiaks 154 153,564 11-20-2020, 01:08 PM
Last Post: desiaks
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी desiaks 4 74,256 11-20-2020, 04:00 AM
Last Post: Sahilbaba
Thumbs Up Gandi Kahani (इंसान या भूखे भेड़िए ) desiaks 232 46,299 11-17-2020, 12:35 PM
Last Post: desiaks
Star Lockdown में सामने वाली की चुदाई desiaks 3 16,166 11-17-2020, 11:55 AM
Last Post: desiaks
Star Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान desiaks 114 148,846 11-11-2020, 01:31 PM
Last Post: desiaks



Users browsing this thread: 4 Guest(s)