Mastaram Stories हवस के गुलाम
11-03-2020, 12:45 PM,
#21
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
अंजलि: क्या?.. (क्या बोलने तक तो अंजलि को कुछ समझ नहीं आता लेकिन फिर उसे समझ आता है कि सलीम क्या बोलना चाह रहा है.. लेकिन जब तक वो समझी तब तक देर हो चुकी थी)

उधर सलीम अंजलि के क्या बोलते ही मुस्कुरा पड़ता है और शरमाने का नाटक करते हुए..

सलीम: जी मेरा लोड्‍ा.. कुछ ज़्यादा बड़ा और मोटा है जब में रात को उसकी चूत मारता था तो इसे दर्द होता था.. और वो...

अंजलि: काका.... (गुस्से में) ये क्या बदतमीज़ी है.. इतनी गंदी लॅंग्वेज में आप बात कैसे कर सकते है... आपकी उमर देखी है आपने..

सलीम: जी 45 साल का ही तो हूँ... और क्या लॅंग्वेज देखूं... आपने जो पूछा वही तो बोला..

अंजलि सोचती है बात तो सही है इसकी लेकिन ऐसी लॅंग्वेज..

अंजलि: ठीक है अब नहीं सुन ना मुझे..

सलीम;: जी वो..

अंजलि:- अब क्या है..

सलीम अपनी शैतानी मुस्कान देते हुए..
सलीम: मेरा लोड्‍ा.. 10 इंच बड़ा और पौने 3 इंच मोटा है.. जिस कारण मेरी बीवी मुझे छोड़ कर चली गई.. ये बात आप किसी से मत कहिएगा..

अंजलि: क्या... ( अंजलि को कुछ समझ नहीं आता कि उसने उसका साइज़ उसे बताया और अब किसी से कहने के लिए मना कर रहा है उसे क्या रिप्लाइ दे..) नहीं बताउन्गी.. में क्यूँ बताने लगी और वैसे भी मेने नहीं सुना.. कितना बड़ा और कितना मोटा है है.. (अंजलि गुस्से में बोल देती है)

सलीम: जी 10 इंच.. बड़ा और पौने तीन इच..

अंजलि अपने कान बंद करते हुए.

अंजलि;: बस बस काका बहुत हुआ आप अपना काम करो..
मुझे नहीं जान ना... कुछ भी..

सलीम: अभी आप ही तो पूछ रही थी अभी आप ही मना कर रही है.. (सलीम थोड़ा रोने का नाटक करते हुए) अजीब औरत है आप पहले मेरे दिल के घाव को छेड़ दिया और अब मेरा दुख दर्द सुने बिना ही जा रही है..

अंजलि: आइ आम सॉरी काका में आपकी कोई मदद नहीं कर सकती.. इतना बोल कर अंजलि जल्दी जल्दी अपने रूम में जाकर अंदर से लॉक कर लेती है..

उधर सलीम आज खुश था कि उसने चिड़िया फँसाने के लिए जाल फेंका और जल्दी ही चिड़िया अंदर होगी.. या उसके नीचे.. सलीम मुस्कुराते हुए चला गया.. लेकिन कहाँ..

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Saleem: kya faayda anjali ji aapko batane se wo waapas to nhi aajayega na.. aur waise bhi jab upar waala kisi ko kuch jyada deto logo ki uski kadar nhi hoti...
Anjali: kya matlab?

Saleem: ji kuch nhi
Anjali: kaka ek to aap baat ko ghuma firakar bahut bolte ho.. sidhe sidhe nhi bata sakte ki baat kya thi..
Saleem: thoda udaas ho kar..
Anjali ji wo meri biwi mujhse darti thi... Raat ko...
Anjali: darti thi?.. kyu aap use maarte the..
Saleem: muskurate huye ji use nhi maarta tha.. lekin pati hun to kuch to maarna tha hi naa..
Anjali: kya matlab... (Anjali saleem ki baat bilkul bhi nhi samajh paati..)
Saleem: ji wo raat ko jaab hum karte the to wo bahut chillati thi.. ek din wo maayke chali gayi.. uske 1 mahine intjaar ke baad meine talaq de diya..
Anjali: kaka aap kya bolrahe ho.. maalum bhi hai aapko.. kyu ki mujhe sach mei kuch samajh nhi aa raha ...
Saleem: thoda sa gussa ho jaata hai ki kaisi bewkoof aurat hai... Kuch samjh hi nhi aata..
Saleem:anjali ji agar khul kar bataunga to aap naaraj ho jaayengi..Aur mei ye nokari nhi khona chahta.. ab yahi ek sahara hai mera pet paalne ka..
Anjali: kaka.. nhi houngi naaraj aap bataye to sahi.. shayad mei aapke liye kuch kar paau...
Saleem: anjali ji aap aakhir kyu mere piche padi hai..
Anjali: kaka aapko meri kasam hai batao to sahi..
Saleem: wo anjali ji mera kuch jyada bada hai..
Anjali: kya?.. (kya bolne tak to anjali ko kuch samajh nhi aata lekin fir use samajh aata hai ki saleem kya bolna chah raha hai.. lekin jab tak wo samjhi tab tak der ho chuki thi)
Udhar saleem anjali ke kya bolte hi muskura padta hai Aur sharmane ka naatak karte huye..
Saleem: ji mera loda.. kuch jyada bada aur mota hai jab mei raat ko uski choot maarta tha to ise dard hota tha.. aur wo...
Anjali: kaka.... (Gusse mei) ye kya badtameezi hai.. itni gandi language mei aap baat kaise kar sakte hai... Aapki umar dekhi hai aapne..
Saleem: ji 45 sal kahi to hun... Aur kya language dekhun... Aapne jo pucha wahi to bola..
Anjali sochti hai baat to sahi hai iski lekin aisi language..
Anjali: thik hai ab nhi sun na mujhe..
Saleem;: ji wo..
Anjali:- ab kya hai..
Saleem apni shaitani muskaan dete huye..
Saleem: mera loda.. 10 inch bada aur paune 3 inch mota hai.. jis kaaran meri biwi mujhe chod kar chali gyi.. ye baat aap kisi se mat kahiyega..
Anjali: kyaa... ( Anjali ko kuch samajh nhi aata ki usne uska size use bataya Aur ab kisi se kehne ke liye mana kar raha hai use kya reply de..) nhi bataungi.. mei kyu batane lagi Aur waise bhi meine nhi suna.. kitna bada aur kitna mota hai hai.. (anjali gusse mei bol deti hai)
Saleem: ji 10 inch.. bada aur paune teen ich..

Anjali apne kaan band karte huye.

Anjali;: bus bus kaka bahut hua aap apna kaam karo..
Mujhe nhi jaan na... Kuch bhi..
Saleem: abhi aap hi to puch rahi thi abhi aap hi mana kar rahi hai.. (saleem thoda rone ka naatak krte huye) ajeeb aurat hai aap pehle mere dil ke ghaav ko ched diya aur ab mera dukh dard sune bina hi jaa rahi hai..
Anjali: I am sorry kaka mei aapki koi madad nhi kar sakti.. itna bol kar anjali jaldi jaldi apne room mei jaakar andar se lock kar leti haai..
Udhar saleem aaj khush tha ki usne chidiya fansne ke liye jaal fenka aur jaldi hi chidiya andar hogi.. ya uske niche.. saleem muskurate huye chala gaya.. lekin kaha..
Saleem gali ke nukkad par aakar.. hello.. raju wo apne hakeem sahab ke no. Hai kya..
Raju: kya hua saleem chacha aaj hakeem sahab ki yaad kaise..
Saleem: are yaar mujhe kuch dawa leni thi.. jodo ke dard ki lagta hai budhapa aagya..
Raju: ha saleem chaha buddhe to lagne lage ho tum ab.. chalo no. To likho..
94666*****
Saleem: thank you raju.. aur bata padhayi kaisi chal rahi hai..
Raju: mast chal rahi hai aur haa nyi chidiya bhi fansa li..
Saleem: to bata kab aau..
Raju: kya kab aau pehle mei ti chakh lu.. saali bahut bhaav khaati hai.. saali ka bhai koi bada aadmi lagta hai..
Saleem: are ek baar apna lund le legi to khud bhai ka rutba bhool kar chudwayegi..
Raju: accha saleem chacha.. aap chahe to dikha sakta hun chidiya ko..
Saleem: chal thik hai bata kab.. dekh kr muth hi maar lunga.. hahaha
Raju: hahahaha. Aj to nhi chacha.. haa is Friday ko humara movie ka plan hai.. to shukarwaar ko dikha dunga..
Saleem : thik hai..
Chal. Abhi to rakhta hun bahut kaam hai..
Raju thik hai chacha..
Raju koi aur nhi saleem ke saath iski tailor ki shop par pehle kaam kiya karta tha.. raju ke koi maa baap nhi hai bus raju jab 14 saal ka tha tab se saleem ke saath rehne laga.dono dosto ki traha rehte hai..
Ab saleem hakeem sahab ko call karta hai..
Saleem: hakeem saheb..Hello..
Hello..
Hakeem: hello Nikon bolrahe hai sahab aap.

Saleem: are hakeem mei bol raha hun .. saleem..
Hakeem: are saleem miya tum ho.. kaho is baar kise pet se kar diye ho..
Saleem; hansta hua.. are hakeem saheb.. ab kaha aisi kishmat tailor ka kaam manda pada hua hai.. waise mujhe tumse kuch dawa ye leni thi...
Hakeem: thik hai.. tum aajao humari dukaan par..
Saleem: thik hai lekin kisi ko nhi batao to aaun.. warna..
Hakeem: miyan lagta hai purana saleem jaag gaya hai.. chalo waayda karta hun nhi batayenge kisi ko.. kaho to
Saleem: milkar batata hun..
Wahi dusri aur anjali.
Anjali: pet ke bal ulti lete lete saleem ke baare mei soch rahi..Thi..

Anjali:kya sach mei saleem ka itna bada. Nhi nhi ye to natural ho hi nhi sakta.. to kya saleem gender increase ka operation karwaya tha.. nhi iski haalat dekh kar to nhi lagta ... Kahi wo mujhse jhut to nhi bol raha tha.. kahi wo mujhe seduce karne ke liye nhi nhi nhi.. wo aisa nhi haai.. gareeb hai to kya sach mei uski biwi itna bada hone ke dar se.. pagli.. itna bada to naseeb se.. ye mei kya soch rahi hun.. sab jhut hai saleem bhi uski biwi bhi..
Anjali apne man ko dutkar kar fir se sone ki koshish karti hai

Lekin aankh band karte hi use ek kaala aadmi apne kaale lund haath mei liye dikhta hai.. jise anjali hila rahi thi..

Reply

11-03-2020, 12:45 PM,
#22
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
सलीम गली के नुक्कड़ पर आकर.. हेलो.. बाबू वो अपने हकीम साहब के नंबर. है क्या..

बाबू: क्या हुआ सलीम चाचा आज हकीम साहब की याद कैसे..

सलीम: अरे यार मुझे कुछ दवा लेनी थी.. जोड़ो के दर्द की लगता है बुढ़ापा आगया..

बाबू: हाँ सलीम चाचा बुड्ढे तो लगने लगे हो तुम अब.. चलो नंबर. तो लिखो..

94666*****

सलीम: थॅंक यू बाबू.. और बता पढ़ाई कैसी चल रही है..

बाबू: मस्त चल रही है और हाँ नई चिड़िया भी फँसा ली..

सलीम: तो बता कब आउ..

बाबू: क्या कब आउ पहले में ती चख लूँ.. साली बहुत भाव खाती है.. साली का भाई कोई बड़ा आदमी लगता है..
सलीम: अरे एक बार अपना लंड ले लेगी तो खुद भाई का रुतबा भूल कर चुदवायेगी..

बाबू: अच्छा सलीम चाचा.. आप चाहे तो दिखा सकता हूँ चिड़िया को..

सलीम: चल ठीक है बता कब.. देख कर मूठ ही मार लूँगा.. हाहाहा

बाबू: हाहहाहा. आज तो नहीं चाचा.. हाँ इस फ्राइडे को हमारा मूवी का प्लान है.. तो शुक्रवार को दिखा दूँगा..

सलीम : ठीक है..

चल. अभी तो रखता हूँ बहुत काम है..

बाबू ठीक है चाचा..

बाबू कोई और नहीं सलीम के साथ इसकी टेलर की शॉप पर पहले काम किया करता था.. बाबू के कोई माँ बाप नहीं है बस बाबू जब 14 साल का था तब से सलीम के साथ रहने लगा.दोनो दोस्तो की तरह रहते है..

अब सलीम हकीम साहब को कॉल करता है..

सलीम: हकीम साहेब..हेलो..

हेलो..

हकीम: हेलो कौन बॉलरहे है साहब आप.

सलीम: अरे हकीम में बोल रहा हूँ .. सलीम..

हकीम: अरे सलीम भाई तुम हो.. कहो इस बार किसे पेट से कर दिए हो..

सलीम; हंसता हुआ.. अरे हकीम साहेब.. अब कहाँ ऐसी किशमत टेलर का काम मंदा पड़ा हुआ है.. वैसे मुझे तुमसे कुछ दवा ये लेनी थी...

हकीम: ठीक है.. तुम आ जाओ हमारी दुकान पर..

सलीम: ठीक है लेकिन किसी को नहीं बताओ तो आउ.. वरना..

हकीम: भाई लगता है पुराना सलीम जाग गया है.. चलो वायदा करता हूँ नहीं बताएँगे किसी को.. कहो तो

सलीम: मिलकर बताता हूँ..
,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Reply
11-03-2020, 12:46 PM,
#23
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
अंजलि जैसे ही दरवाजा खोलती है उसके सामने देव खड़ा होता है..
एक पल को अंजलि घबरा जाती है.. लेकिन अगले ही पल खुद को संभाल कर..
अंजलि: आप इस वक़्त.. यहाँ..

देव दरवाजा खुलने के बाद अंजलि की ओर देखते हुए अंदर आजाता है ..और

देव: और कॉन होगा.. में अपने ही घर नहीं आ सकता..क्या..?

अंजलि: नहीं वो वो आप तो रात को आते हो ना.. तो आज जल्दी... इस लिए पूछा

देव: तो क्या हुआ मेड्म अब हमे अपने घर में आने के लिए भी अपायंटमेंट लेना पड़ेगा.

अंजलि: जी नहीं सर.. मुस्कुराते हुए. आप बैठो में कॉफी बनाती हूँ..

देव: नहीं तुम मेरा सामान पॅक करदो.. मुझे शाम को गोआ के लिए निकलना है.. अर्जेंट वर्क है 15 डेज़ के लिए..

अंजलि: यूँ अचानक..

देव:अभी कुछ नहीं बता सकता सीक्रेट है.. तुम यार पॅकिंग करो ना..

देव इतना बोलकर वॉशरूम में चला जाता है... अंजलि यूँ ही बड बडाते हुए पॅकिंग करने लगती है..

वही दूसरी और सलीम हकीम के साथ बात करता है..

सलीम: सलाम वालेकुम हकीम साहेब....

हकीम:वालेकुम सलाम सलीम मिया.. बहुत दिनो बाद नज़र आरहे हो मिया..

सलीम: अरे हकीम साहेब.. जोरू गई ज़मीन गई अब तो घर घर काम करके नोकरी कर रहा हूँ...

हकीम: अच्छा कोई बात नहीं मिया अल्लाह करे तुम तरक्की करो.. कहो कैसे आना हुआ..

सलीम: थोडा सोच कर.. हकीम साहेब.. हमारे मालिक की बीवी सुंदर है, पढ़ी लिखी भी है, लेकिन उसका मन अपने पति के साथ हम बिस्तर होने का नहीं करता.. तो मालिक ने कहा कि तुम तो मुस्लिम हो कोई हकीम साहेब होतो पूछो उनसे.. कोई दवा.. तो.....

हकीम: एक बार सलीम की ओर देखता है फिर..

हकीम: सलीम मिया कहीं तुम फिर से कोई ग़लत..

सलीम: अरे नहीं नहीं हकीम साहेब.. तुम्हारी कसम.. इसीलिए तो सीधा सब्जी लेते हुए तुम्हारे पास आगया..
Reply
11-03-2020, 12:46 PM,
#24
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
वही दूसरी और अंजलि.

अंजलि: पेट के बल उल्टी लेटे लेटे सलीम के बारे में सोच रही..थी..

अंजलि:क्या सच में सलीम का इतना बड़ा. है नहीं नहीं ये तो नॅचुरल हो ही नहीं सकता.. तो क्या सलीम जेंडर इनक्रीस का ऑपरेशन करवाया था.. नहीं इसकी हालत देख कर तो नहीं लगता ... कहीं वो मुझसे झूठ तो नहीं बोल रहा था.. कहीं वो मुझे सिड्यूस करने के लिए नहीं नहीं नहीं.. वो ऐसा नहीं है.. ग़रीब है तो क्या सच में उसकी बीवी इतना बड़ा होने के डर से.. पगली.. इतना बड़ा तो नसीब से.. ये में क्या सोच रही हूँ.. सब झूठ है सलीम भी उसकी बीवी भी..

अंजलि अपने मन को दुतकार कर फिर से सोने की कोशिश करती है

लेकिन आँखे बंद करते ही उसे एक काला आदमी अपने काला लंड हाथ में लिए दिखता है.. जिसे अंजलि हिला रही थी..

जब अंजलि उपर आदमी का चेहरा देखती है है तो चिल्ला कर उठ जाती है...

अंजलि:ओह गॉड क्या सपना था ये.. सलीम काका.. सपने में अपने उस के साथ अरे नहीं नहीं.. ये सब मेरी कल्पना है.. लेकिन ऐसी कल्पना क्यूँ.. क्या में सलीम काका का वो देखना चाहती हूँ.. नहीं नहीं ओह गॉड.. ये क्या हो रहा है.. तभी अंजलि देखती है कि उसकी चूत पूरी गीली पड़ी है और उसका पानी उसकी जांघों से बैठे बैठे उसकी गान्ड तक पहुँच गया..

अंजलि:देव.. तुम क्यूँ नहीं करते अपनी बीवी की देख भाल मेने सिर्फ़ बच्चे अभी नहीं करने के लिए कहा था लेकिन तुम तो.. थोड़ा सा उदास हो कर अंजलि बिस्तर पर फिर से सोचने लगती है..

क्या में सलीम काका का वो झेल पाउन्गी.. क्या सलीम काका मेरे साथ वो सब करना चाहते है.. नहीं ये नहीं होसकता कभी नहीं...में सिर्फ़ देव की हूँ और किसी की नहीं..

लेकिन क्या सच में सलीम काका का इतना बड़ा है.. उनकी बीवी कितनी लकी थी.. देव का तो 7.5 के करीब ही होगा.. उनका लेने में ही मुझे कितनी तकलीफ़ हुई थी.. फर्स्ट नाइट को.. फिर 10 इंच..बाप रे मम्मी..क्या करूँ.. मैं सलीम काका से सेक्स नहीं करूँगी..

अब अंजलि का अंतर्द्वंद..

अंजलि का मन: पगली उसने कब बोला वो तेरे साथ सेक्स करना चाहता है.. तुमने पूछा तो उसने बता दिया..

अंजलि; तो मेने कब बोला में उस से सेक्स करूँगी.. वो 2कोड़ी का बस नोकर है..

मन: लेकिन हथियार उसका वो तो 2 कोड़ी का नहीं है.

अंजलि: -बस बहुत हुआ एनफ.. जब तक आँखो से ना देखो यकीन मत करो...

मन:तो क्या तू उसका रियल में देखे गी..

अंजलि:शरमाते हुए नहीं नहीं मेने ऐसा तो नहीं कहा..

मन:अगर रियल में देख भी ली तो क्या..

अंजलि: तो क्या उसका सच और झूठ सब सामने आ जाएगा..

मन: अगर उसका बड़ा निकला तो..

अंजलि,: इंपॉसिबल... ऐसा किसी का नहीं होता.. ये तो बस नीग्रो लोगो के ज़रूर.. लेकिन वहाँ की जलवायु ऐसी ही है..

मन: सलीम का रंग और बदन देख कर तो वो भी नीग्रो ही लगता..

अभी द्वंद चल ही रहा था कि.. डोर बेल बजती है..

टीएर्ऱ्लिन्न्न टीएर्ऱ्लिन्न्न..

अंजलि का द्वंद यही ख़तम हो जाता है और वो दरवाजा खोलने आगे बढ़ती है कि उसकी चूत का पानी उसके घुटनो की ओर बढ़ने लगता है.. जिस से अंजलि को खुजली और गुदगुदी दोनो होने लगती है.. और वो दरवाजा के करीब पहुँच कर अपने पैरो को थोड़ा टाइट खींच कर छोड़ देती है ताकि उसे खुजली में शांति मिले और उसके हाथ भी गंदे ना हो..

डोर खुलते ही उसके सामने......

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Jab anjali upar aadmi ka chehra dekhti hai hai to chilla kar uth jaati hai...
Anjali:oh god kya sapna tha ye.. saleem kaka.. sapne mei apne us ke saath are nhi nhi.. ye sab meri kalpana hai.. lekin aisi kalpana kyu.. kya mei saleem kaka ko wo dekhna chahti hun.. nhi nhi oh god.. ye kya ho raha hai.. tabhi anjali dekhti hai ki uski choot puri gili padi hai aur uska paani uski janghon se baithe baithe uski gaand tak pahunch gaya..
Anjali:dev.. tum kyu nhi karte apni biwi ki dekh bhaal meine sirf bacche abhi nhi karne ke liye kaha tha lekin tum to.. thoda sa udaas ho kar anjali bistar par fir se sochne lagti hai..

Kya mei saleem kaka ka wo jhel paungi.. kya saleem kaka mere saath wo sab karna chahte hai.. nhi ye nhi hosakta kabhi nhi...Mei sirf dev ki hun aur kisi ki nhi..
Lekin kya sach mei saleem kaka ka itna bada hai.. unki biwi kitni lucky thi.. dev ka to 7.5 ke kareeb hi hoga.. unka lene mei hi mujhe kitni takleef huyi thi.. first night ko.. fir 10 inch..Baap re mummy..Kya karu.. mei saleem kaka se sex nhi karungi..
Ab anjali ka antardwandh..
Anjali ka man: pagli usne kab bola wo tere saath sex karna chahta hai.. tumne pucha to usne bata diya..
Anjali; to meine kab bola mei us se sex karungi.. wo 2kodi ka bus nokar hai..
Man: lekin hathiyaar uska wo to 2 kodi ka nhi haai.
Anjali: bus bahut hua enough.. jab tak aankho se na dekho yakeen mat karo...
Man:to kya tu uska real mei dekhe gi..
AnjaliConfusedharmate huye nhi nhi meine aisa to nhi kaha..
Man:agar real mei dekh bhi li to kya..
Anjali: to kya uska sach Aur jhut sab saamne aa jayega..
Man: agar uska bada nikla to..
Anjali,: impossible... Aisa kisi ka nhi hota.. ye to bus nigro logo ke zarur.. lekin waha ki jalwaayu aisi hi hai..
Man: saleem ka rang aur badan dekh kr to wo bhi nigro hi lagta..
Abhi dwandh chal hi raha tha ki.. door bell bajti hai..
TeeerRlinnn TeeerRlinnn..
Anjali ka dwandh yahi khtm ho jaata hai aur wo darwaja kholne aage badhti hai ki uski choot ka paani uske ghutno ki aur badhne lagta hai.. jis se anjali ko khujli aur gudgudi dono hone lagti hai.. aur wo darwaja ke kare pahunch kar apne pairo ko thoda tight kheench mar chod deti hai taki use khujli mei shaanti mile aur uske haath bhi gande na ho..
Door khulte hi uske saamne......

Anjali jaise hi darwaja kholte hai uske saamne dev khada hota hai..
Ek pal ko anjali ghabra jaati haai.. lekin agle hi pal khud ko sambhal kar..
Anjali: aap is waqt.. yaha..

Dev darwaja khulne ke baad anjali ki aur dekhte huye andar aajata hai ..Aur
Dev: aur kon hoga.. mei apne hi ghar nhi aa sakta..Kya..?
Anjali: nhi wo wo aap to raat ko aate ho na.. to aaj jaldi... is liye pucha
Dev: to kya hua madem ab hume apne ghar mei aane ke liye bhi appointment lena padega.
Anjali: ji nhi sir.. muskurate huye. Aap baitho mei coffee banati hun..
Dev: nhi tum mera saaman pack kardo.. mujhe shaam ko goa ke liye nikalna hai.. urgent work haai 15 days ke liye..
Anjali: yun achanak..
Dev:abhi kuch nhi bata sakta secret hai.. tum yaar packing karo na..
Dev itna bolkar washroom mei chala jaata hai... Anjali yun hi bad badate huye packing karne lagti hai..

Wahi dusri aur salim hakeem ke saath baat karta hai..
Saleem: salaam waalekum hakeem saheb....
Hakeem:waalekum salam saleem miya.. bahut dino baad nazar aarahe ho miya..
Saleem: are hakeem saheb.. joru gyi zameen gyi ab to ghar ghar kaam karke nokri kar raha hun...
Hakeem: accha koi baat nhi miyaa allaah kare tum tarakki karo.. kaho kaise aana hua..
Saleem: thoda soch kar.. hakeem saheb.. humare maalik ki biwi sundar hai, padhi likhi bhi hai, lekin uska man apne pati ke saath hum bistar hone ka nhi karta.. to maalik ne kaha ki tum to muslim ho koi hakeem saheb ho ti pucho unse.. koi dawa..
Too.....
Hakeem: ek baar saleem ki aur dekhta hai fir..
Hakeem: saleem miya kahin tum fir se koi galat..
Saleem: are nhi nhi hakeem saheb.. tumhari kasam.. isiliye to sidha sabji lete huye tumhare pass aagya..
Hakeem:thik hai miya lekin ek baat sun lo.. mei jo dawa dunga wo use kam se kam 3 din leni hi hogi subha shaam... Us dawa ko lene ke teesre roj se koi bhi ladki ya aurat ho uske andar ki garmee badhne lagti hai.. lekin kayi baar wo garmi itni badh jaati hai ki mard us aurat ko sambhaal bhi nhi paata.. is liye is dawa ko teesre roj se kam kar deni chahiye.. dusri baat ek tel bhi deta hun us tel ko laga kar aurat ke saath agar mard hum bistar hoga to us tel ki wajha se aurat ki garmi mei jaldi nhi pighal paayega....
Saleem: ji hakeem saheb.. lekin dawa unko aise deni hai ki unhe pata na chale ki unka pati unhe koi dawa de raha hai..
Hakeem: dekho miya ye to ek tel hai.. iski 5 se 6 bund doodh mei milakar pila dena use pata bhi nhi chalega.. baaki ek powder hai lekin use kaise doge wo tum jaano..
Saleem: hakeem saheb iska swaad kaisa hai..
Hakeem: lakdi jaisa lagega miya..Haa tum ise kisi bhi cheej mei mix kar ke de sakte ho..
Saleem: khane mei mila kar de sakte hai hai..
Hakeem:, haa de sakte ho.. dekho saleem miya tumhare baat karne ke andaaz se ye to saaf hai ki koi aurat to hai.. lekin ye baat nhi hai ki uske pati ke liye ye sab.. chalo jaane do lekin yaad rakhna.. tum wo tel zarur istemaal karna .
Saleem muskurata hua hakeem saheb ko 2000rs. De deta hai..
Saleem,: accha hakeem saheb chalta hun..
Hakeem: accha saleem miya fir milte hai allah ne chaha to.. aur haan apna khyaal rakhna aur ye paap karm karna chod do miya ... Allaah ko jawab dena mushkil na ho jaaye kahi..
Saleem hakeem ki baat sunkr ansuni karta hua waapas anjali ke ghar ki aur chal deta hai.. tabhi raaste mei use.. kaanta nazar aati hai..
Kaamya ek gaadi mei thi jaha 2 ladke aur 2 ladkiya bhi the kaamya thodi nashe mei lag rahi thi ki tabhi ladka kaamya ke kandhe pr haath rakh kr uske honto ko chumne ki koshish karta hai.. kaamya use door karne ki koshish..
Saleem: hello raju...................
Thodi der baad saleem aor raju kaamya ko scooter par bitha kar dev ke ghar chodne aate hai..
Raju: thank you saleem chacha meri gf ko bachane ke liye..
Saleem kuch samajh nhi paata...
Reply
11-03-2020, 12:46 PM,
#25
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
हकीम:ठीक है मिया लेकिन एक बात सुन लो.. में जो दवा दूँगा वो उसे कम से कम 3 दिन लेनी ही होगी सुबह शाम... उस दवा को लेने के तीसरे रोज से कोई भी लड़की या औरत हो उसके अंदर की गर्मी बढ़ने लगती है.. लेकिन कयि बार वो गर्मी इतनी बढ़ जाती है कि मर्द उस औरत को संभाल भी नहीं पाता.. इस लिए इस दवा को तीसरे रोज से कम कर देनी चाहिए.. दूसरी बात एक तेल भी देता हूँ उस तेल को लगा कर औरत के साथ अगर मर्द हम बिस्तर होगा तो उस तेल की वजह से औरत की गर्मी में जल्दी नहीं पिघल पाएगा....

सलीम: जी हकीम साहेब.. लेकिन दवा उनको ऐसे देनी है कि उन्हे पता ना चले कि उनका पति उन्हे कोई दवा दे रहा है..

हकीम: देखो मिया ये वो एक तेल है.. इसकी 5 से 6 बूँद दूध में मिलकर पिला देना उसे पता भी नहीं चलेगा.. बाकी एक पाउडर है लेकिन उसे कैसे दोगे वो तुम जानो..

सलीम: हकीम साहेब इसका स्वाद कैसा है..

हकीम: लकड़ी जैसा लगेगा मिया..हाँ तुम इसे किसी भी चीज़ में मिक्स कर के दे सकते हो..

सलीम: खाने में मिला कर दे सकते है
..
हकीम:, हां दे सकते हो.. देखो सलीम मिया तुम्हारे बात करने के अंदाज़ से ये तो सॉफ है कि कोई औरत तो है.. लेकिन ये बात नहीं है कि उसके पति के लिए ये सब.. चलो जाने दो लेकिन याद रखना.. तुम वो तेल ज़रूर इस्तेमाल करना .

सलीम मुस्कुराता हुआ हकीम साहेब को 2000रुपये. दे देता है..

सलीम,: अच्छा हकीम साहेब चलता हूँ..

हकीम: अच्छा सलीम मिया फिर मिलते है अल्लाह ने चाहा तो.. और हां अपना ख्याल रखना और ये पाप कर्म करना छोड़ दो मिया ... अल्लाह को जवाब देना मुश्किल ना हो जाए कही..

सलीम हकीम की बात सुनकर अनसुनी करता हुआ वापस अंजलि के घर की ओर चल देता है.. तभी रास्ते में उसे.काम्या नज़र आती है..
कामया एक गाड़ी में थी जहाँ 2 लड़के और 2 लड़किया भी थे कामया थोड़ी नशे में लग रही थी कि तभी लड़का कामया के कंधे पर हाथ रख कर उसके होंटो को चूमने की कोशिश करता है.. कामया उसे दूर करने की कोशिश करती है..

,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
Dar asal hua yun ki jab saleem kaamya ke saath ladko ko badtameezi karte dekhta hai to raju ko scooter lekar aane ko bol deta hai.. phone par saleem ko gusse mei dekh karrahi samajh jaata hai ki baat serious hai.. to raju turant waha chal deta hai..Wahi saleem raju ko ane ka bol kar phone kaat deta hai aur kaamya ko un ladko ke chungal se chuda lata hai saath hi unhe ye bhi bol deta hai ki wo dev saheb ka driver hai..
Ladke bolte hai ki wo mla ka beta hai to saleem gusse mei ek chanta maarkar bhaga deta hai unhe.. tab tak kaamya saleem par nashe mei gussa ho rahi thi ki saleem ne uske dosto ke saath badtameezi kyu ki.. raju ke aate hi saleem kaamya ko scooter par bitha kar ghar le aata hai.. is beech raju ne kuch nhi kaha.. lekin ab achanak muh khola to bolta hai
Raju: thank you saleem chacha meri gf ko bachane ke liye..
Saleem:ye wo shukarwaar waali chori to nhi hai na..
Raju: wahi haai..
Tabhi andar se anjali ki aawaj aati hai.. aarahi hun.kon hai..
Tabhi saleem raju ko jaane ka ishara kar deta haai..

Anjali: kamaya kamaya? Hey bhagwaan kya hua kamaya ko..? Anjali saleem ki aur dekhte huye puchti hai..
Saleem: ji pehle aap inhe upar kamre mei to le chalo yaha baahar log dekh rahe hai... Ho sakta hai baat bana ne lag jaaye.. zamane ko to bus ek bahana chahiye hota hai ladkiyon ki baate banane ke liye aur fir bijli ki traha fail jaati hai wo baate hai..
Anjali saleem ki or dekh kar haan mei sir hilati hai use bhi saleem ki baat 16 aana sahi lagti hai..
Saleem aur anjali dono kamaya ko pakad kar uske kamre mei le jane lagte hai.. saleem apni sabji ka thela wahi rakh kar kamaya ko kandhe ka sahara dekar upar room mei le jaane lagta hai..Kamaya nashe mei thi.. to saleem apna ek haath kamaya ki gaand par rakh dekh deta hai aur dusra sidhe kamaya ki chunchi daba kar pet pr haath rakh leta hai.. kamaya ki chunchi jald baaji mei jor se daba deta hai saleem to kamaya jor se chikh padti hai.. aaaaaahhh siiiii.. uummm hato na ...
Anjali: saleem ki ye harkat dekh leti hai.. lekin kuch nhi bolti kyu ki ghar ki ijjat hai ye soch kar..
Halanki anjali ko gussa to bahut aaraha tha saleem par..
Lekin sochne waali baat ye thi ki kamaya nashe ki haalat mei bhi ye jaan sakti hai ki uske kisi ne boobs dabaye hai to wo itne pyaar se hanste huye hato na hi bol kar kyu rah gyi.. iska matlab uska koi chakkar to chal raha hai.. hey bhagwaan yr ladki pata nhi kya kya gul khila rahi hai... Aisa anjali sochne lagti hai...
Kaise jaise karke dono kamaya ko uske room mei bistar par lita dete hai..
Saleem ab ek nazar kamaya ko dekh kar kuch sochne lagta hai aur waha se jaane wala hota hai ki.. anjali ek baar fir se saleem ko rok leti hai...
Anjali: kaka ye sab kya hai.. hua kaise.. kon tha wo.. ?
Saleem: muskurate huye.. kaise hua aur kon tha~? Kuch sochte huye. Kon tha nhi anjali ji kitne the. ?
Anjali: kaka... kya matlab kitne the ..? kamaya ki ye halat kaise huyi..Kaka. thoda sa gusse mei puchti hai..
Saleem kuch der sochta hai lekin fir muskurane lagta hai. Apni shaitani muskurahat saleem chupa nhi pata...Aur anjali saleem ki wo muskaan dekh kar thoda sa shak kar baithti hai ki kahi saleem ne hi to... Nhi nhi nhi..Ye budha aisa nhi kar sakta. Lekin ye to bol raha tha iska wo.. nhi nhi ye bhi nhi.. agar aisa hota to kamaya mar hi jaati... Aur mei.. kya mei le paati... What .... Ye mei kya soch rahi hun
Anjali: kaka kahi aapne...
Saleem: muskurate huye are nhi nhi anjali ji... Darasal abhi tak to nhi kiya...
Anjali;: matlab.
Saleem : ji fir kabhi bataunga
Saleem jaise hi baahar jaane lagta hai anjali is baar thoda sa jor se bolti hai...Kaka... Waha kon tha kya hua mujhe abhi isi waqt detail mei jaan na hai..
Saleem:wo sab kuch jo waha hua..
anjali: haa
Saleem : dekho anjali ji aap fir naaraj mat hona kyu ki jo kuch waha hua wo sab aap nhi sun paayenge abhi aap bacchi hai.. wo sab mei dev babu ko bataunga.. wo sab sambhaal lenge..
( Saleem ko malum chal gaya thaki anjali dev se ye sab baate chupana chahti hai taaki kamaya uske saamne sharminda na ho..) to fas advantage of weakness start hua...
Anjali: mujhe bacchi bol rahe hai kaka.. aur ye kamaya ...Ye to mujhse bhi choti.. tabhi saleem beech mei hi baat kaat te huye...
Saleem: kamaya ko dekha hai meine ye bacchi nhi hai.. har cheej dekhi hai meine..
Anjali: puri traha se chonk jaati hai.. sab cheej ... Is ka matlab waha zarur kuch ulta sidha hua hai.. hey bhagwaan kamaya ke bhaiya ko kya jawab dungi mei..
Saleem: anjali ko tension mei dekh kar apna haath anjali ke kandhe par rakhta hai jaha par blowj nhi tha nanga kandha gardan ke paas.. waha haath rakha kar saleem anjali ke kandhe ko sehla raha tha.. aur anjali saleem ke haath rakhte hi stabdh ho jaati hai.. anjali ka rom rom akad sa jata hai..Pure sharir mei jhurjhuri si pahil jaati hai..Aur niche halka sa leackage shuru ho jata hai.. saleem ki nazar jaise hi anjali ki chunchiyon par jaati hai to saleem to bus dekhta reh jaata hai. Anjali ke nippal itne bade the ki tight blowj ke upar saadi lipti hone ke bawjood bhi uske nippal itne kathor ta se khade dikh rahe the....
Saleem bahut khush hota hai.. wo apna haath anjali ke kandhe se hatate huye..
Saleem: wo maaf kijiyega.. jara bhavanaon mei behgya tha..
Anjali: jor se sans lete huye.. ji koi baat nhi...please kaka mujhe batayiye.. waha kya hua tha...
Saleem: anjali ji waha jo kuch hua wo bahut ashleel hai wo sirf ek mard ko bata sakta hun.. to dev babu ke aane ka intjaar kar lete hai na.. unse aap puch lijiyega..
Anjali: saleem kaka ye sab hum dev ko nhi batayenge.. kabhi bhi nhi.. ab aap mujhe batayiye..
Saleem: lekin kyu..
Anjali: saleem kaka dev gusse wala aadmi hai agar use gussa aaya to khoon karke wo jail chala jaayega.. aur gusse mei aakar wo ya to mera aur kamaya ka khoon karega ya fir un sab ka.. isliye bol rahi hun aap mujhe batao..
Saleem: saali ye tk jyada hi serious hogyi.. ab to mujhe koi sexy si kahani soch ni padegi.. saleem isi soch ke saath bol padta haai..
Saleem: thik hai anjali ji.. lekin aap bura mat maaniyega...

Ab agar aurat ko koi baat jaan ni ho to kuch bhi karke wo jaan ne ki koshish to karti hi hai.
Wahi haal anjali ka.. use bhi ab ye news jaan ni hi thi ki aakhir hua kya tha waha..

Saleem bhi ab form mei aagya tha.. saleem jaanta tha.. wo ab anjali ko open kar sakta hai.. lekin use ashleel ya badhani hogi.. sir anjali ko patana hoga.. wahi dusri aur anjali dar rahi thi ki kahi decide in sab ka jimmedaar na tehra de..
Aarti ghar ke baahar thi.. sulochana so rahi thi.. anjali kamaya aur saleem abhi kamaya ke bedroom mei the..
Reply
11-03-2020, 12:46 PM,
#26
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
सलीम: हेलो बाबू...................

थोड़ी देर बाद सलीम और बाबू कामया को स्कूटर पर बिठा कर देव के घर छोड़ने आते है..

बाबू: थॅंक यू सलीम चाचा मेरी गर्लफ्रेंड को बचाने के लिए..

सलीम कुछ समझ नहीं पाता...

दर असल हुआ यूँ कि जब सलीम कामया के साथ लड़को को बदतमीज़ी करते देखता है तो बाबू को स्कूटर लेकर आने को बोल देता है.. बाबू फोन पर सलीम को गुस्से में देख कर ही समझ जाता है कि बात सीरीयस है.. तो बाबू तुरंत वहाँ चल देता है..वही सलीम बाबू को आने का बोल कर फोन काट देता है और कामया को उन लड़को के चुंगल से छुड़ा लाता है साथ ही उन्हे ये भी बोल देता है कि वो देव साहेब का ड्राइवर है..

लड़का बोलता है कि वो एमएलए का बेटा है तो सलीम गुस्से में एक चाँटा मारकर भगा देता है उन्हे.. तब तक कामया सलीम पर नशे में गुस्सा हो रही थी कि सलीम ने उसके दोस्तो के साथ बदतमीज़ी क्यूँ की.. बाबू के आते ही सलीम कामया को स्कूटर पर बिठा कर घर ले आता है.. इस बीच बाबू ने कुछ नहीं कहा.. लेकिन अब अचानक मूह खोला तो बोलता है

बाबू: थॅंक यू सलीम चाचा मेरी गर्लफ्रेंड को बचाने के लिए..

सलीम:ये वो शुक्रवार वाली चोरी तो नहीं है ना..

बाबू: वही है..

तभी अंदर से अंजलि की आवाज़ आती है.. आरहि हूँ.कॉन है..

तभी सलीम बाबू को जाने का इशारा कर देता है..

अंजलि: कामया कामया? हे भगवान क्या हुआ कामया को..? अंजलि सलीम की ओर देखते हुए पूछती है..

सलीम: जी पहले आप इन्हे उपर कमरे में तो ले चलो यहाँ बाहर लोग देख रहे है... हो सकता है बात बना ने लग जाए.. ज़माने को तो बस एक बहाना चाहिए होता है लड़कियों की बाते बनाने के लिए और फिर बिजली की तरह फैल जाती है वो बाते ,

..
अंजलि सलीम की ओर देख कर हां में सिर हिलाती है उसे भी सलीम की बात 16 आना सही लगती है..
Reply
11-03-2020, 12:47 PM,
#27
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
सलीम और अंजलि दोनो कामया को पकड़ कर उसके कमरे में ले जाने लगते है.. सलीम अपनी सब्जी का थेला वही रख कर कामया को कंधे का सहारा देकर उपर रूम में ले जाने लगता है..कामया नशे में थी.. तो सलीम अपना एक हाथ कामया की गान्ड पर रख देख देता है और दूसरा सीधे कामया की चूंची दबा कर पेट पर हाथ रख लेता है.. कामया की चूंची जल्द बाजी में ज़ोर से दबा देता है सलीम तो कामया ज़ोर से चीख पड़ती है.. आआआहह सीईईई.. उउंम्म हटो ना ...

अंजलि: सलीम की ये हरकत देख लेती है.. लेकिन कुछ नहीं बोलती क्यूँ कि घर की इज़्ज़त है ये सोच कर..
हालाँकि अंजलि को गुस्सा तो बहुत आरहा था सलीम पर..

लेकिन सोचने वाली बात ये थी कि कामया नशे की हालत में भी ये जान सकती है कि उसके किसी ने बूब्स दबाए है तो वो इतने प्यार से हंसते हुए हटो ना ही बोल कर क्यूँ रह गई.. इसका मतलब उसका कोई चक्कर तो चल रहा है.. हे भगवान ये लड़की पता नहीं क्या क्या गुल खिला रही है... ऐसा अंजलि सोचने लगती है...

कैसे जैसे करके दोनो कामया को उसके रूम में बिस्तर पर लिटा देते है..

सलीम अब एक नज़र कामया को देख कर कुछ सोचने लगता है और वहाँ से जाने वाला होता है कि.. अंजलि एक बार फिर से सलीम को रोक लेती है...

अंजलि: काका ये सब क्या है.. हुआ कैसे.. कॉन था वो.. ?

सलीम: मुस्कुराते हुए.. कैसे हुआ और कॉन था~? कुछ सोचते हुए. कॉन था नहीं अंजलि जी कितने थे. ?

अंजलि: काका... क्या मतलब कितने थे ..? कामया की ये हालत कैसे हुई..काका. थोड़ा सा गुस्से में पूछती है..

सलीम कुछ देर सोचता है लेकिन फिर मुस्कुराने लगता है. अपनी शैतानी मुस्कुराहट सलीम छुपा नहीं पाता...और अंजलि सलीम की वो मुस्कान देख कर थोड़ा सा शक कर बैठती है कि कहीं सलीम ने ही तो... नहीं नहीं नहीं..ये बूढ़ा ऐसा नहीं कर सकता. लेकिन ये तो बोल रहा था इसका वो.. नहीं नहीं ये भी नहीं.. अगर ऐसा होता तो कामया मर ही जाती... और में.. क्या में ले पाती... व्हाट .... ये में क्या सोच रही हूँ

अंजलि: काका कहीं आपने...

सलीम: मुस्कुराते हुए अरे नहीं नहीं अंजलि जी... दरअसल अभी तक तो नहीं किया...

अंजलि;: मतलब.

सलीम : जी फिर कभी बताउन्गा
Reply
11-03-2020, 12:47 PM,
#28
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
सलीम जैसे ही बाहर जाने लगता है अंजलि इस बार थोड़ा सा ज़ोर से बोलती है...काका... वहाँ कॉन था क्या हुआ मुझे अभी इसी वक़्त डीटेल में जान ना है..

सलीम:वो सब कुछ जो वहाँ हुआ..

अंजलि: हां

सलीम : देखो अंजलि जी आप फिर नाराज़ मत होना क्यूँ कि जो कुछ वहाँ हुआ वो सब आप नहीं सुन पाएँगी अभी आप बच्ची है.. वो सब में देव बाबू को बताउन्गा.. वो सब संभाल लेंगे..

( सलीम को मालूम चल गया था कि अंजलि देव से ये सब बाते छुपाना चाहती है ताकि कामया उसके सामने शर्मिंदा ना हो..) तो अड्वॅंटेज ऑफ वीकनेस स्टार्ट हुआ...

अंजलि: मुझे बच्ची बोल रहे है काका.. और ये कामया ...ये तो मुझसे भी छोटी.. तभी सलीम बीच में ही बात काट ते हुए...

सलीम: कामया को देखा है मेने ये बच्ची नहीं है.. हर चीज़ देखी है मेने..

अंजलि: पूरी तरह से चोंक जाती है.. सब चीज़ ... इस का मतलब वहाँ ज़रूर कुछ उल्टा सीधा हुआ है.. हे भगवान कामया के भैया को क्या जवाब दूँगी में..

सलीम: अंजलि को टेन्षन में देख कर अपना हाथ अंजलि के कंधे पर रखता है जहाँ पर ब्लाउज नहीं था नंगा कंधा गर्दन के पास.. वहाँ हाथ रख कर सलीम अंजलि के कंधे को सहला रहा था.. और अंजलि सलीम के हाथ रखते ही स्तब्ध हो जाती है.. अंजलि का रोम रोम अकड़ सा जाता है..पूरे शरीर में झुरजुरी सी फैल जाती है..और नीचे हल्का सा लीकेज शुरू हो जाता है.. सलीम की नज़र जैसे ही अंजलि की चूंचियों पर जाती है तो सलीम तो बस देखता रह जाता है. अंजलि के निप्पल इतने बड़े थे कि टाइट ब्लाउज के उपर साड़ी लिपटी होने के बावजूद भी उसके निप्पल इतनी कठोर ता से खड़े दिख रहे थे....

सलीम बहुत खुश होता है.. वो अपना हाथ अंजलि के कंधे से हटाते हुए..

सलीम: वो माफ़ कीजिएगा.. ज़रा भावनाओं में बह गया था..

अंजलि: ज़ोर से सांस लेते हुए.. जी कोई बात नहीं...प्लीज़ काका मुझे बताइए.. वहाँ क्या हुआ था...

सलीम: अंजलि जी वहाँ जो कुछ हुआ वो बहुत अश्लील है वो सिर्फ़ एक मर्द को बता सकता हूँ.. तो देव बाबू के आने का इंतजार कर लेते है ना.. उनसे आप पूछ लीजिएगा..

अंजलि: सलीम काका ये सब हम देव को नहीं बताएँगे.. कभी भी नहीं.. अब आप मुझे बताइए..

सलीम: लेकिन क्यूँ..

अंजलि: सलीम काका देव गुस्से वाला आदमी है अगर उसे गुस्सा आया तो खून करके वो जैल चला जाएगा.. और गुस्से में आकर वो या तो मेरा और कामया का खून करेगा या फिर उन सब का.. इसलिए बोल रही हूँ आप मुझे बताओ..

सलीम: साली ये तो ज़्यादा ही सीरीयस हो गई.. अब तो मुझे कोई सेक्सी सी कहानी सोच नी पड़ेगी.. सलीम इसी सोच के साथ बोल पड़ता है..
Reply
11-03-2020, 12:47 PM,
#29
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
सलीम: ठीक है अंजलि जी.. लेकिन आप बुरा मत मानीएगा...

अब अगर औरत को कोई बात जान नी हो तो कुछ भी करके वो जान ने की कोशिश तो करती ही है.
वही हाल अंजलि का था.. उसे भी अब ये न्यूज़ जान नी ही थी कि आख़िर हुआ क्या था वहाँ..

सलीम भी अब फॉर्म में आगया था.. सलीम जानता था.. वो अब अंजलि को ओपन कर सकता है.. लेकिन उसे अश्लीलता बढ़ानी होगी.. सिर्फ़ अंजलि को पटाना होगा.. वही दूसरी ओर अंजलि डर रही थी कि कहीं देव इन सब का ज़िम्मेदार ना ठहरा दे..

आरती घर के बाहर थी.. सुलोचना सो रही थी.. अंजलि कामया और सलीम अभी कामया के बेडरूम में थे..

सलीम:अंजलि जी जब में सब्जी लेकर आ रहा था तो मेने देखा कि एक कार में कुछ लड़के और लड़किया हँसी मज़ाक कर रहे थे लेकिन जब गौर से देखा तो उन लड़कियों में कामया जी का चेहरा मेने पहचान लिया.. इस लिए में धीरे धीरे कार के नज़दीक गया.. लेकिन जो मेने वहाँ देखा तो यकीन मानिए मेरे पावं तले से ज़मीन खिसक गयी..

अंजलि: क्यू ऐसा क्या हुआ था वहाँ काका...

सलीम: अंजलि जी मेने देखा कि उस कार में टोटल 4 लोग थे.. 2 लड़के और 2 लड़किया.. उनमें से एक कामया जी थी, दूसरी लड़की को वो लोग अंजलि अंजलि कहकर बुला रहे थे..

एक एमएलए का लड़का था जिसे वो दूसरा लड़का भाई भाई कहकर बुला रहा था.. और वो एमएलए का लड़का अंजलि को बोल रहा था कि सलीम का लोड्‍ा चूस बेहन की लोडी...

अंजलि: एकदम से चोंक जाती है सलीम के मूह से वल्गर लॅंग्वेज सुन के.. तो सलीम से चोंक ते हुए गुस्से में बोलती है छी काका कैसे बोल रहे है आप..

सलीम: सॉरी अंजलि जी मेने तो पहले ही कहा था कि आप नहीं सुन पाओगे.. में देव साहब को बता दूँगा लेकिन आज ही..

अंजलि:थोड़ा सा सोच कर कि उसे सच जान ना है तो बोलती है कोई बात नहीं आगे बताओ आप..

सलीम: उसके बाद मेने देखा कि वो एमएलए का लड़का कामया जी की चुचियों से दूध पी रहा था...

अंजलि: व्हाट ....? यू मीन ही वाज़ सकिंग हर ब्रेस्ट...

सलीम: बिल्कुल अंजान बनते हुए... क्या क्या क्या.. ये क्या बोला आपने कुछ समझ नहीं आया..

अंजलि: वो... अब कैसे बताऊं... आपने सच में देखा कि वो लड़का कामया के बूब्स.... आइ मीन सक कर रहा था..

सलीम: नहीं अंजलि जी... मेने सच में यही देखा कि वो लड़का कामया जी की मोटी गोरी चुचियों.. दबा दबा कर चूस रहा था...
और कामया जी मज़े से उसे चुचियाँ चूसा रही थी... सक पता नहीं मेरे सामने तो चूस रहा था वो...
Reply

11-03-2020, 12:47 PM,
#30
RE: Mastaram Stories हवस के गुलाम
अंजलि: सलीम की बात सुनकर शरमा जाती है.. की मेने भी तो यही बोला था... बेवकूफ़..

सलीम: उसके बाद में वहाँ पहुँच गया और जैसे ही उन्हे भागने के लिए जाने वाला था कि उन्होने कहा.. सलीम अंजलि की चूत चाट के गरम कर साली को..
उसके बाद सलीम ने अंजलि की स्कर्ट को उसकी कमर तक उपर कर दिया और अंजलि की चूत चाट ने लगा..
जब में कार के पास पहुँचा तो दोनो लड़के डर गये थे अंजलि और कामया जी की तो आँखे मज़े में बंद थी..

अंजलि..: व्हाट .?

सलीम: एक तो आप बीच बीच में टोक देती हो ऐसे में कुछ भूल गया तो...

अंजलि: सॉरी सॉरी फिर क्या हुआ..

सलीम: उसके बाद मेने देखा..

अंजलि झुक कर सलीम का कम से कम 10 इंच बिल्कुल मेरे जैसे लोड्‍ा झुक कर मूह में ले रही थी और मज़े से चूस रही थी..
मुझे देख कर एमएलए का लड़का बोला भाग यहाँ से. ऐसा उसने 2 3 बार बोला लेकिन में वहाँ से भाग कर आ भी तो नहीं सकता था.. आख़िर कामया जी थी उनके साथ अगर में आजाता तो वो लोग कामया जी को चोद(फक) डालते..

अंजलि: एकदम सुन्न होकर सलीम की तरफ देख रही थी और उसकी बाते सुन रही थी..

सलीम: अभी तक अंजलि के भाव देख रहा था कि सलीम जैसे अपना और अंजलि का नाम कहानी में डालकर सुना रहा है उस से अंजलि को कुछ भी फील नहीं हो रहा है या नही पर वो तो बस कामया के बारे में परेशान थी.. अब सलीम ने सोचा कुछ ऐसा करना पड़ेगा कि अंजलि देखे और महसूस करे की गाड़ी में वो ही थी सलीम यानी मेरे साथ..
तो सलीम बोलता है...
उसके बाद अंजलि जी मेने देखा कि कैसे बताऊं...

में कामया जी के साथ करके बताऊं... वादा करता हूँ अपनी हद से ज़्यादा आगे नहीं नहीं बढ़ुंगा...

अंजलि:, अभी कुछ सोच ही रही थी कि बिना सुने उसने हां में सर हिला दिया..

बस सलीम को और क्या चाहिए था..
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Heart Chuto ka Samundar - चूतो का समुंदर sexstories 665 2,829,765 11-30-2020, 01:00 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Thriller Sex Kahani - अचूक अपराध ( परफैक्ट जुर्म ) desiaks 89 7,359 11-30-2020, 12:52 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Desi Sex Kahani कामिनी की कामुक गाथा desiaks 456 56,637 11-28-2020, 02:47 PM
Last Post: desiaks
Lightbulb Gandi Kahani सबसे बड़ी मर्डर मिस्ट्री desiaks 45 12,446 11-23-2020, 02:10 PM
Last Post: desiaks
Exclamation Incest परिवार में हवस और कामना की कामशक्ति desiaks 145 70,885 11-23-2020, 01:51 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Maa Sex Story आग्याकारी माँ desiaks 154 153,747 11-20-2020, 01:08 PM
Last Post: desiaks
  पड़ोस वाले अंकल ने मेरे सामने मेरी कुवारी desiaks 4 74,267 11-20-2020, 04:00 AM
Last Post: Sahilbaba
Thumbs Up Gandi Kahani (इंसान या भूखे भेड़िए ) desiaks 232 46,323 11-17-2020, 12:35 PM
Last Post: desiaks
Star Lockdown में सामने वाली की चुदाई desiaks 3 16,178 11-17-2020, 11:55 AM
Last Post: desiaks
Star Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान desiaks 114 148,940 11-11-2020, 01:31 PM
Last Post: desiaks



Users browsing this thread: 9 Guest(s)