Muslim Sex Stories मैं बाजी और बहुत कुछ
12-26-2019, 02:01 AM,
#31
RE: Muslim Sex Stories मैं बाजी और बहुत कुछ
Nice muslim incest story
Reply

12-28-2019, 06:52 PM,
#32
RE: Muslim Sex Stories मैं बाजी और बहुत कुछ
(03-30-2019, 11:19 AM)sexstories Wrote: बाजी के बूब्स बहुत मोटे थे जब बाजी कार से उतर कर कॉलेज के अंदर जा रही थी तो मेरी नज़रें फिर उनकी गाण्ड पे चली गई मेरे शरीर में मीठी मीठी लहरें दौड़ना शुरू हो गई बाजी की पतली वी शेप कमर और उस पे बाहर निकली हुई मोटी गाण्ड क्या शानदार कॉम्बीनेशन बनाया था प्रकृति ने। । इस पर एक और करिश्मा था कि बाजी के बूब्स मोटे मोटेथे। यानी कि बाजी के बूब्स मोटे कमर वी शेप में और गाण्ड मोटी और बाहर निकली हुई। । अपनी बहन को इस तरह बुरी नज़र से देखने में इतना अनजाना सा मज़ा। ऐसा क्यों? मेरे अंदर एक सवाल ने सिर उठाया। । । मनुष्य जीवन में बहुत से पाप करता है, जिनमें से कुछ पाप सुख से भरे हुए हैं पर ये पाप तो ऐसा रमणीय ऐसा मजेदार था कि शरीर में एक अजीब सी आग ही लग गई थी। । आंखों के सामने सब कुछ फीका होता जा रहा था शरीर हल्का और हल्का होता जा रहा था एक अजीब सा नशा हो रहा था शरीर के हर एक भाग में। । 

मैं अपने आप को इस रमणीय पाप में डूबता हुआ महसूस कर रहा था। । इतने में पीछे से एक कार का हॉर्न बजा और फिर मैं होश में आया कि मैं रास्ता रोक कर खड़ा था। । बाजी कॉलेज के अंदर जा चुकी थी। मैं भी अपने कॉलेज की ओर चल पड़ा। । 

आज मेरा कॉलेज में दिल नहीं लग रहा था हिना बाजी मन से उतरती तो मन भी लगता ना। । बस यही इंतजार था कि कॉलेज खत्म हो और हिना बाजी को पिक करने पहुँचू । । (यहाँ में बाजी का पूरा हुलिया भी बता दूं। मेरी दीदी इतनी प्यारी है जैसे प्रकृति का कोई करिश्मा हो। बाजी के बाल काले और लम्बे यानी कि हिप्स तक हैं आंखें बहुत सुंदर और बड़ी-बड़ी हैं रंग बहुत ज़्यादा गोरा चेहरे पे प्यारी सी नाक और होंठ गुलाबी कलर के न बहुत पतले न बहुत मोटे और कद 5। 6 बाकी उनके बारे मे पहले ही बता चुका हूँ मैं भी एक स्मार्ट लड़का हूँ मेरा कद 5। 9 इंच रंग गोरा आकर्षक आँखें सीना चौड़ा है।।) अब वापस स्टोरी की ओर आते हैं। में बाजी के विचारों में गुम था कि इतने मे किसी ने आकर मुझे पीछे कंधे से पकड़ के मामूली सा झनझोड़ा और कहा कि मिस्टर आज किधर खोए हो मैंने पीछे की ओर देखा तो यह मेरी प्रेमिका साना थी। । साना और मैं बचपन से ही स्कूल में थे अब कॉलेज भी एक ही थाबचपन की दोस्ती थी इसलिए एक दूसरे को जानते थे । सिर्फ दोस्ती थी। इससे ज़्यादा कुछ नहीं। । साना मेरी एक ऐसी दोस्त थी जिससे हर बात शेयर करता था और वह भी अपनी हर बात मुझसे शेयर करती थी। । मेरे और फ्रेंड्स भी थे पर जितनी क्लोज साना थी उतना और कोई नहीं था। 


हां जनाबकहाँ खोए हो मैंने कहा कुछ नहीं बस ऐसे ही साना ने काफ़ी जोर दिया पर अब जाहिर है मैं उसे अपने नेक विचार बताकर निराश तो नहीं कर सकता था। । मेरी और साना की दोस्ती बहुत अच्छी थी पर हम दोनों एक सीमा से आगे कभी नहीं बढ़े । और वैसे भी जो मैं सोच रहा था वह तो किसी भी हाल में नहीं बता सकता था। । क्यों कि एक तो यह ऐसा पाप था जिसकी जितनी बुराई की जाय उतनी कम है और सब पापों के ऊपर है पर इतना ज़रूर था कि इस पाप के रहस्य की रक्षा अब मुझे ही करनी थी। । । साना शुरू हो गई यहाँ वहाँ की बातें करने लगी मैं भी उससे गपशप में लगा रहा। । फिर वहां से फ्री होने के बाद मैं बाजी को लेने निकल पड़ा। । । बाजी के कॉलेज के बाहर पहुँच के बाजी के सेल पे मैसेज किया कि वो बाहर आ जाएं। बाजी मेरा ही वेट कर रही थीं वह कॉलेज के गेट से ज्यों ही सामने हुई तो जैसे फिर मैं उनकी सुंदर जवानी मे गोते खाने लगा और मेरी बाजी के मोटे बूब्स मेरी आंखों के सामने मेरे पास और पास आते जा रहे थे और फिर बाजी कार में आके बैठ गई। । और मैं भी होश की दुनिया में वापस आ गया। । आज बाजी बहुत गुस्से में थीं। मेरे पूछने पे उन्होंने बताया कि आज उनकी एक मजनूं से लड़ाई हुई है । बाजी गुस्से वाली बहुत तेज थी। । । मैंने बाजी की हालत देखते हुए बाजी को एक दो जोक सुनाए जिस से उनका मूड अच्छा हो गया। । । मैं रास्ते में यह सोच रहा था कि जानेक्यों अपनी बहन को गलत नज़र से देखने में मज़ा आता है । वैसे तो मैने सैक्सुअल एकटीवैटेस इतनी ज़्यादा महसूस नहीं की थी बस कभी कभी जब मुझे चस्का चढ़ता था तो मैं लैपटॉप पे झटका सिनेमा देख के मुठ मार लेता था। । इससे ज़्यादा कभी मैंने कुछ नहीं किया। न ही मेरी लाइफ में कोई लड़की आई न कभी मन किसी पे गया। । जब कभी मैं झटका मूवी देखता था तो उस में नंगी लड़कियों देख कर भी मुझे वह मज़ा तो कभी नहीं आता था जो मुझे अपनी बहन को कपड़े सहित देखने में आ रहा था। । यही सोचते सोचते घर आ गया। हम लोग कार से उतर कर घर में प्रवेश कर गए। । । अम्मी को सलाम किया और अपने अपने रूम में फ्रेश होने के लिए जाने लगे सीढ़ियों पर चढ़ते हुए बाजी मेरे आगे थी बस फिर वही मेरा छिछोरापन शुरू। । मेरी नजरें बाजी की मोटी बाहर निकली हुई गाण्ड पे। इतना आइडिया मुझे हो गया था कि बाजी ने नीचे अंडर वेअर नहीं पहना हुआ क्योंकि जब वह चल रहीथीं तो उनके दोनों चूतड़ आगे पीछे आगे पीछे हो रहे थे गाण्ड का पब जब पीछे की ओर होता तो मुझे ऐसा लगता जैसे मुझे कह रहा हो कि मुझे पकड़ लो और जैसे ही वह पब आगे की ओर जाता तो मुझे लगता जैसे कह रहा हो कि ठीक है मैं जा रहा हूँ मत पकड़ो मुझे। । बाजी की गाण्ड को इतने पास से आगे पीछे आगे पीछे होते मैंने पहली बार देखा था। । बाजी की गाण्ड के साथ सीढ़ियों की यह यात्रा समाप्त हो गई और बाजी अपने रूम में और मैं अपने कमरे में चला गया जब मैं रूम में गया तो तब मुझे होश आया कि बेसुधि की हालत में मेरा क्या हाल हो चुका है। । 

मैंने सोचा लो अब यह समय भी देखना था इस चक्कर में। कि अपनी बहन की मोटी गाण्ड को देख केलंड ने हार्ड होना भी शुरू कर दिया था । खैर कुछ देर के लिए आराम करने बेड पे लेट गया और थोड़ी देर बाद खाने के लिए नीचे चला गया। । नीचे बाजी पहले से ही टेबल पे बैठी खाना खा रही थी। । मैंने अपना मन बनाने की कोशिश की कि अब बाजी की ओर इस दृष्टि से ना देखूं और अपने आप पे नियंत्रण रखूं । मुझे अपने उद्देश्य में सफलता भी दिखी कि खाने के दौरान या खाने के बाद भी मैंने बाजी को इस नज़र से देखने की कोशिश नहीं की। । । और रूम में आ गया। । दोपहर में मैं दिन सोता हूँ। । मैं अपनी दिनचर्या के अनुसार सोया और फिर उठ के फ्रेश हो के स्टडी करने बैठ गया। । शाम को फ्रेंड्स के साथ घूमने के लिए बाहर चला गया। । । जब वापस आया तो खाने का समय हो चुका था। फ्रेश हो कर खाने के लिए आया तो अबू अम्मी और बाजी खाने की टेबल पे मेरा ही वेट कर रहे थे। । अबू ने मुझसे स्टडी के बारे में पूछा और मैंने कहा कि सब ठीक है पापा ने फिर बाजी से पूछा बाजी ने भी अपनी स्टडी के बारे में अबू को बताया। । । । । । मैंने खाना खाया और रूम में आ गया। । । और लैपटॉप ऑनलाइन किया और एक अच्छी इंग्लिश लगाकर देखने लगा। । । मूवी देखने के बाद मेरा दिल किया कि क्यों ना आज देसी मूवी देख के मुठ मारी जाए। । मैंने देसी मूवी लगाई और देखने लगा देसी मूवी में लड़की इतनी सेक्सी थी कि मेरा बुरा हाल हो गया इसमे लड़की मोटी थी और उसकी गांड भी मोटी थी वह बहुत मजे मजे से लड़के से चुदवा रही थी। । मैंने अपना लंड बाहर निकाला और मूवी देखने के साथ साथ लंड भी मसलने लगा मेरी स्पर्म थोड़ी थोड़ी लंड की टोपी से निकल रही थी मैं बहुत मजे में था कि अचानक कमरे केडोर पे दस्तक हुई। मैंने जल्दी से लैपटॉप बंद किया और अपना लण्ड भी सलवार के अंदर किया और एक लंबी सांस ले कर अपने आप को रिलेक्स किया कि मेरा लंड भी बैठ जाए वरना वह सलवार के ऊपर से नजर आ जाता। .लंड को नॉर्मल कर में नेडोर खोला तो सामने बाजी खड़ी थीं। । । । ।
दीदी को अकेले चोदने मे कंहाँ मजा अता है दीदी जब दोस्तो के साथ लंड लेती है तब मज़ा आता है
Reply
02-09-2021, 08:02 AM,
#33
RE: Muslim Sex Stories मैं बाजी और बहुत कुछ
End accha nahi laga
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
Lightbulb Bhai Bahan Sex Kahani भाई-बहन वाली कहानियाँ desiaks 118 27,343 02-23-2021, 12:32 PM
Last Post: desiaks
  Mera Nikah Meri Kajin Ke Saath desiaks 2 8,199 02-23-2021, 07:31 AM
Last Post: aamirhydkhan
  XXX Kahani एक भाई ऐसा भी sexstories 72 1,114,176 02-22-2021, 06:36 PM
Last Post: Rani8
Star XXX Kahani Fantasy तारक मेहता का नंगा चश्मा desiaks 467 168,230 02-20-2021, 12:19 PM
Last Post: desiaks
  पारिवारिक चुदाई की कहानी Sonaligupta678 26 592,580 02-20-2021, 10:02 AM
Last Post: Gandkadeewana
Wink kamukta Kaamdev ki Leela desiaks 82 111,190 02-19-2021, 06:02 AM
Last Post: aamirhydkhan
Thumbs Up Antarvasna कामूकता की इंतेहा desiaks 53 131,856 02-19-2021, 05:57 AM
Last Post: aamirhydkhan
Star Maa Sex Kahani मम्मी मेरी जान desiaks 115 397,411 02-10-2021, 05:57 PM
Last Post: sonkar
Star Bahu ki Chudai बहुरानी की प्रेम कहानी sexstories 85 959,185 02-08-2021, 05:56 AM
Last Post: Manish Marima 69
Lightbulb Incest Porn Kahani उस प्यार की तलाश में sexstories 85 176,740 02-08-2021, 12:30 AM
Last Post: Meet Roy



Users browsing this thread: 16 Guest(s)