Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
03-05-2021, 01:14 PM,
#11
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
Update 11


अंतरंग हमसफ़र 11- रूबी और रोजी एक साथ.

अंतरंग हमसफ़र पिछले भाग में आपने पढ़ा;

"क्या तुम उस चीज़ को नियंत्रित नहीं कर सकते,"हँसते हुए रोजी ने कहा।


"क्षमा करें, आप जानते हैं कि इसका खुद का दिमाग है। यह आप दोनों के आसपास होने से अब बिलकुल बेकाबू है।"मैंने जवाब दिया, मैं अपनी असहज भावना को छिपाने की कोशिश कर रहा था ।

मैं दीपक आपने मेरी कहानिया झट शादी पट सुहागरात-1-4 में पढ़ा कैसे मेरी सहयोगी प्रीती दुल्हन बन कर सुहागरात मनाने को तैयार हो गयी और उसके बाद मेरी और मेरे घर की देखभाल करने वाली रोजी और रूबी मिली और मेरी पहली चुदाई के बारे में पूछने लगी तो मैंने उसे बताया किस तरह मैं रोज़ी और रूबी से मिला और कैसे मेरी और रोजी की पहली चुदाई हुई और उसके बाद कैसे मैंने रूबी को चोदा और फिर हमारे गाँव के प्रवास के आखिरी दिन जंगल में हमने ग्रुप सेक्स और प्रेमिकाओ की अदला बदली का कार्यक्रम बनाया और रोजी ने हमे अपनी सहेली टीना से मिलवाया और टीना की पहली चुदाई कैसे हुई फिर छोटे योनि के छेद वाली मोना को मैंने चोदा रात में एकबार फिर सबका एक साथ ग्रुप सेक्स हुआ और रोजी मेरे साथ शहर आ गयी उसके बाद मेरी बुआ और उनकी तीन बेटियों लंदन से दिल्ली हमारे घर आये और मैं और मेरी बुआ की सबसे बड़ी बेटी जेन के साथ शाम के समय मैदान में घूमने गया और वहां उससे प्रेम निवेदन किया और रात में रोजी और रूबी के साथ हमारा पहला थ्रीसम शुरू हुआ ( मेरे अंतरंग जीवन की हमसफ़र -1 -10)

अब आगे

रोजी बोली ठीक है हरेक का अपनी भावना व्यक्त करने का और धन्यवाद करने का अलग तरीका है और इसका ये तरीका बहुत शानदार है। ये कह कर रोजी मेरे ऊपर झुकी और मुझे एक बहुत गरमा गर्म लिप किस करि। कुछ देर बाद हमने चुंबन तोड़ दिया तो रूबी ने मजाक में पूछा रोजी मुझे लगता है मुझे भी धन्यवाद देना चाहिए।"

"इसका लाभ उठाएं।"रोजी ने कहा।

उस टिप्पणी के बाद, एक सेकंड के अंदर ही रूबी के होठों ने मेरा एक जबरदस्त चुंबन किया ।

फिर रोजी बोली एक धन्यवाद मेरी तरफ से तो रूबी तुम्हारा भी बनता है जो तुमने मुझे दीपक जी से मिलवाया और प्रेम शास्त्र का अद्भुत अनुभव दिलवाया और रूबी को किश करने लगी ।रूबी भी उसी शिद्दत से रोजी को चूमने लगी । मैंने भी बोला रूबी का धन्यवाद तो मुझे भी देना चाहिए जो मुझे रोजी जैसी शानदार प्रेमिका से मिलवाया और रोजी का धन्यवाद के उसने मुझे इतना शुद्ध निर्मल और स्वार्थ रहित पूर्ण समर्पित प्रेम किया और उन चुम्बन करती हुई बहनो के चुम्बन में मैं भी शामिल हो गया।

इस तरह हमने एक थ्रीसम चुम्बन किया जिसमे तीनो एक दुसरे के ओंठो को चूस रहे थे।. ये बहुत शानदार अनुभव था। मैं रोजी और रूबी का ऊपर का ओंठ चूस रहा था तो रूबी और रोजी मेरा आधा नीचे का ओंठ चूस रही थी और तीनो की जीभे आपस में मिल रही थी। कुछ पता नहीं किसकी जीभ किसके साथ पेच लड़ा रही थी। तीनो की आँखे आनंद में बंद थी।

पता नहीं हम तीनो कितनी देर किस करते रहे। मेरे हाथ उनकी पीठ पर फिरते रहे और पीठ से होकर उनके एक स्तन पर पहुँच कर रोजी के दाए स्तन और रूबी के बाए स्तन से खेलने लग गए।

मेरे लिए ये शानदार सेक्स की सबसे शानदार शुरुआत है जो एक गर्म किश से शुरू होती है। योनि प्रवेश से पहले खुद को हुए अपने साथी को तैयार करना इसमें चूमना किश करना, सहलाना, प्यार करना,. मीठी बाते करना एक अच्छे सेक्स का बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा हैl इससे सेक्स का पूरा मजा मिलता है।

रूबी चुम्बन तोड कर सांस लेने के लिए रुकी तो तीनो ने एक दुसरे को देखा तो मैंने उसे वापिस नीचे खींच लिया और हमने दुबारा एक दुसरे को चूमना शुरू कर दिया और रूबी ने मेरी जांघों को रगड़ना शुरू कर दिया। फिर रोजी ने चुंबन तोड़ दिया , मैं रूबी की ओर मुड़ते हुए बोला मुझे लगता है मैं आप दोनों से बेहतर कर सकता हूँ। "

एक धीमी गति से मौन मंजूरी के साथ, रूबी ने उसकी सहमति दे दी है और रोजी ने मुझे एक और गर्म चुंबन दे दिया और जैसे रूबी मेरी जाँघे रगड़ रही थी वैसे ही उसका हाथ भी नीचे पहुँच गया और मेरी कठोर लंड को सहलाते हुए उसने उसे कस कर पकड़ कर दबोच लिया ।

जब रोजी ने अपना चुम्बन तोडा तो रूबी ने भी गर्म चुम्बन से लेकर मेरी छाती को अपने हाथो से सहलाते हुए उसका हाथ भी मेरे लंड पर पहुंचा । उसकी जांघो ने मेरी जांघ को रगड़ा और फिर उसने भी लंड को सहलाते हुए दबोच लिया ।

फिर जब रूबी का चुंबन समाप्त हो गया है, हमने आगे और पीछे एक दूसरे को देखा, ये हमारे लिए एक नया रोमांच था।

10 सेकंड के अंदर ही वे दोनों में झुक कर मेरी गर्दन को चूमने और चाटने लगी और मेरे सारे बदन पर उनके हाथ चल रहे थे फिर जब रोजी मेरी छाती को चूम और चाट रही थी तो रूबी मुझे लिप किश करने लगी । फिर जहाँ रोजी ने छाती को चूमना रोका वही से रूबी मेरी छाती को चूमना और चाटना शुरू कर देती थी और रोजी मुझे लिप कस करने लगी इस तरह बारी बारी से वैकल्पिक चुंबन और मुझे चूमना और चाटना चलता रहा और वह दोनों मेरे निप्पलों से बारी बारी खेलने और चूसने लगी। .ये एक अभूतपूर्व अनुभव था पूरा शरीर कुछ नया अनुभव कर रहा था । एक साथ ओंठो का चुम्बन और छाती के निप्पल को चुसवाना. मेर लंड फुफकार रहा था ।

इसके बाद पता नहीं कब मेरा हर हाथ से एक अलग चूत पर पहुँच गया था और तभी मैंने महसूस किआ कि दो जोड़ी हाथ मेरे बहुत खड़े हुए लंड से खेल रहे हैं।
मैंने शुरू में प्रत्येक चूत को अपने हाथ से सहलाया और फिर उन्हें रगड़ना शुरू कर दिया । जबकि मेरी उंगलियों ने हर एक के अंदर अपना रास्ता ढूंढ लिया। रूबी की चूत के अंदर मेरे एक हाथ की उंगलियाँ थीं, जबकि मेरे दूसरे हाथ की उंगलियाँ रोजी की चूत के अंदर थीं। मैं वो कर रहा था जो मुझे लगता था कि कभी भी नहीं होगा, एक ही समय में दो अलग-अलग महिलाओं की योनियों में अपनी उंगलियों के साथ खेलना । सच में ये एक अद्भुत अनुभव था । इस दौरान हमारी किस चलती रही ।

उनकी चूत पर हाथ फेरने के कुछ ही मिनटों के बाद रूबी और रोजी दोनों ने अपनी स्थिति बदल ली और अपने सिर को मेरे पैर की ओर करके बिस्तर पर लेट गईं। इस बदलाव के बबाद भी वे दोनों मेरे लंड के साथ खेलती रही , और लंड के ऊपर अपने हाथ एक साथ चलाती रही इससे पहले कि मुझे यह समझ आये कि क्या हो रहा है । मैंने महसूस किया कि होंठों की एक जोड़ी ने मेरे लंड को घेर लिया है और नीचे की ओर से उँगलियों से लंड को पकड़ लिया था, जिससे लंड सीधा खड़ा रहे ।

मैंने नीचे देखा और देखा कि रूबी मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूस रही थी जबकि रोजी ने मेरा लंड पकड़ रखा था। रोजी ने रूबी के लिए एक ऐसे स्थिति में मेरा लंड अपने हाथ से उसके बेस पर पकड़ रखा तह जिससे रूबी को लंड चूसने में कोई दिक्कत न हो । इस तरह से रूबी ने मेरे लंड को पहली बार चूसा था । कुछ देर बाद इसी का अनुसरण करते हुए रोजी ने मेरा लंड चूसा और रूबी ने मेरा लंड उसके लिए पकड़ा । इसी तरह दोनों ने कई बार बारी बारी से मेरा लंड चूसा मैं उन्हें मेरा लंड चूसते हुए देखता रहा ।

मेरे लिए ये अद्भुत अनुभव था जब पहली बार इस तरह से मेरा लंड दो लड़कियों ने एक साथ बारी बारी से चूसा हो । फिर उन दोनों ने मेरा लंड अब एकसाथ चूसना शुरू कर दिया । रोजी मेरे लंडमुंड को मुँह में दाल कर चूसने लगी और रूबी बाकी के खड़े हुए कठोर लंड की पूरी लम्बाई को चूसने लगी।

उनका भी पहला थ्रीसम होते हुए भी उनका सामंजस्य अद्भुत था । ऐसा नहीं लग रहा था ये उनका भी पहला थ्रीसम है । फिर दोनों ने आधा आधा लंड चूसना शुरू कर दिया । रोजी ने दायी और से चूसना शुरू किया और रूबी ने बायीं और से चूसना शुरू कर दिया । दोनों ऊपर से शुरू करती फिर लंड पर झीभ फेरते हुए नीचे तक जाती फिर जड़ से वापिस ऊपर तक आती। मैं तो बस जन्नत में था।

फिर मेरा ध्यान मेरे सर के दोनों और उनकी चूत पर गया जो मेरे मुँह के पास थी । दोनों लड़किया इस तरह से लेटी हुई थी के उनकी चुत मेरे मुँह के बिलकुल पास थी ।रोजी की चुत बायीं और और रूबी की चूत सिर के बाईं ओर थीl मुझे केवल अपना सिर एक तरफ से दूसरी तरफ मोड़ना था और मेरा मुंह रूबी और रोजी की चूत पर टिका कर उन्हें बारी बारी चूसने लगा । मैं पहले एक चूत को चूसता और चाटता था फिर सर घुमा कर दूसरी को चूसने और चाटने लगता ।
मैं कई बार आगे पीछे होकर रूबी और रोजी की चुत को बारी बारी चूमता चूसता रहा । मैं उनकी चुत की पूरी लम्बाई और गहराई में अपनी जीभ चला रहा था । मैंने जीभ से उनकी चुत की गहराई की जांच करि । हालाँकि मेरा लंड कई बार उनकी चुत की गहराइयों की जांच कर चूका था पर जीभ से जांच करने का ये अनुभव स्पेशल था । मैंने उसकी चुत को इस प्रकार से चाटा बिल्ली कटोरे से दूध चाट जाती है । मैंने बिल्ली के समान गति का उपयोग करते हुए इसकी गहराई की जांच की।

बीच मैं कभी-कभी उनकी छत के दाने को भी चूसना शुरू कर देता और फिर उनकी योनि के बाहरी होठों की पूरी लंबाई को अपने मुँह में लेकर चूसता और फिर अचानक अपनी जीभ को जितना हो सके उनकी योनि की गहराइयों में घुसा देता था । हालांकि मुझे पता था कि मेरा मुँह दोनों में से किस की चुत पर था पर मैं उन्हें उनके स्वाद से भी बताने में सक्षम था। रोजी की चूत को स्वाद लगभग मीठा और हल्का था; जबकि रूबी की चूत का तीखा और तेज स्वाद था।

उसके बाद हमने स्थिति बदल दी जिसमे रोजी और रूबी दोनों एक-दूसरे के बगल में अपनी पीठ पर लेट गए। इसने मुझे प्रत्येक महिलाओं में से एक के साथ 69 करने की सुविधा दी। जब मेरा चेहरा रूबी या रोजी की चूत पर था, तो मैं उस पर लेट जाता और अपनी जीभ को उनकी चूत में जहाँ तक मैं पहुँच सकता था डाल देता था । वही मेरा लंड उसके मुँह में होता था ।

जिस तरह वो मेरे लंड को चूस रही थी मैं भी उसी तरह उसकी चूत के हिस्सों को अपने मुँह में ले लेता और उसे उसी तरह से चूसता जैसे वो चूस रही थी । पूरे समय यही होता रहा जब वो मेरा लंड मुँह की गहराइयों में लेकर चूसती रही और उसी तरह मैं उसकी चुत चूसता रहा । मैं फिर दूसरी लड़की के साथ ऐसा ही करता हूं, फिर से एक से दूसरे चुत पर बारी बारी से चूसने लगा । जब मैं अपना चेहरा रोजी या रूबी की चूत पर लगा कर चाटता था उसी समय दूसरी की चूत को मेरी उँगलियाँ जितनी हो सकती थीं और उसे अपने हाथ से चोद रहा था। इस दौरान दोनों दो बार झड़ चुकी थी ।

मैं आज दोनों को बराबर समय और प्यार देना चाहता था, तो रोजी बोली अब आप पहले रूबी को चोदिये मैं उसकी चूत का जितना हो सकता था चोदना चाहता था, लेकिन मैं रोजी को यह सोचने के लिए नहीं चाहता था कि मुझे आज केवल रूबी में दिलचस्पी थी। मैंने निश्चय किया मैं जो भी रोजी के साथ किया वही मैं रूबी के साथ करूंगा और मैं रूबी के साथ जो भी करूंगा वही मैं रोजी के साथ भी करूंगा। मैंने उनमें से प्रत्येक के साथ समान व्यवहार करने की कोशिश की।

रूबी और रोजी अपने समय को विभाजित करने के लिए स्वतंत्र थी । उन दोनों की हरकते और मेरे लंड को चूसने का समय अलग अलग था । हम आखिरकार मैं पीठ पर आ गया और रूबी या रोजी मेरे मुँह पर बैठ गयी और मैं उनकी चुत को खाने लगा जबकि इस दौरान दूसरी मेरे लंड को शानदार तरीके से चूसती । फिर उन्हों ने कई बार अपनी स्थिति बदली ताकि मैं उनकी चुत को अछि तरह से चाट सकू और फिर वो मेरा लंड भी चूस सके।

अब चुकी मैं प्रत्येक छोर पर एक समय में मैं एक को ही समायोजित कर सकता था, तो फिर मैंने सुझाव दिया क्यों न त्रिकोण बना कर किया जाए।इससे तीनो के मुँह और जानाँनग का भरपूर उपयोग हो सके, तो मैं साइड पर लेट गया और रूबी ने अपनी चुत मेरे मुँह के पर रखी और अपना मुँह मेरे लैंड के तरफ कर साइड पर लेट गयीl उसके बाद रोजी भी इस तरह से लेटी के मेरा लंड उसके मुँह में था और उसकी चुत रूबी के मुँह के पास थी। अब तीनो के मुँह चल रहे थे।
कुछ देर बाद दोनों ने अपनी स्थिति बदल ली इसके बाद मेरा मुँह रोजी की चुत पर चल रहा था और रोजी का मुँह रूबी की चुत पर था और रूबी का मुँह मेरे लंड पर था ।

इस पूरे समय में यह सब हो रहा था हमारे छह हाथ चार उपलब्ध स्तनों और निप्पल्स के साथ खेल रहे थे। इस तरह हम तीनों ने काफी समय बहुत सारे मौखिक सेक्स के अलावा एक-दूसरे के शरीर के साथ खेलने और और छेड़ छाड में बिताया।

मुझे इनमे से सबसे ज़्यादा मज़ा तब आया, जब रूबी और रोजी दोनों एक साथ अपने मुँह को मेरे लंड के दोनों तरफ रखेंगी और दोनों अपने मुँह को एक साथ ऊपर-नीचे करती थी इस मौके पर उनमें से एक ने मेरे लंड की पूरी लंबाई को अपने मुँह में ले लिया तब भी बहुत मजा आया ।

आगे क्या हुआ ये कहानी जारी रहेगी ..





दीपक

अगले भाग में पढ़े - रूबी और रोजी के साथ सामूहिक सेक्स- अंतरंग हमसफ़र भाग 12

Reply

03-06-2021, 04:59 PM,
#12
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
Update 11

रूबी और रोजी के साथ सामूहिक सेक्स- अंतरंग हमसफ़र भाग 11

पिछले अंतरंग हमसफ़र भाग 10- रूबी और रोजी एक साथ को आप Update 9 के स्थान   पर Update 10 पढ़े

गतांक से उद्धृत

- "क्या तुम उस चीज़ को नियंत्रित नहीं कर सकते,"हँसते हुए रोजी ने कहा।

"क्षमा करें, आप जानते हैं कि इसका खुद का दिमाग है। यह आप दोनों के आसपास होने से अब बिलकुल बेकाबू है।"मैंने जवाब दिया, मैं अपनी असहज भावना
को छिपाने की कोशिश कर रहा था ।

अब तक का सार

मैं दीपक आपने मेरी कहानिया झट शादी पट सुहागरात-1-4 में पढ़ा कैसे मेरी सहयोगी प्रीती दुल्हन बन कर सुहागरात मनाने को तैयार हो गयी और उसके बाद मेरी और मेरे घर की देखभाल करने वाली रोजी और रूबी मिली और मेरी पहली चुदाई के बारे में पूछने लगी तो मैंने उसे बताया किस तरह मैं रोज़ी और रूबी से मिला और कैसे मेरी और रोजी की पहली चुदाई हुई और उसके बाद कैसे मैंने रूबी को चोदा और फिर हमारे गाँव के प्रवास के आखिरी दिन जंगल में हमने ग्रुप सेक्स और प्रेमिकाओ की अदला बदली का कार्यक्रम बनाया और रोजी ने हमे अपनी सहेली टीना से मिलवाया और टीना की पहली चुदाई कैसे हुई फिर छोटे योनि के छेद वाली मोना को मैंने चोदा रात में एकबार फिर सबका एक साथ ग्रुप सेक्स हुआ और रोजी मेरे साथ शहर आ गयी उसके बाद मेरी बुआ और उनकी तीन बेटियों लंदन से दिल्ली हमारे घर आये और मैं और मेरी बुआ की सबसे बड़ी बेटी जेन के साथ शाम के समय मैदान में घूमने गया और वहां उससे प्रेम निवेदन किया और रात में रोजी और रूबी के साथ हमारा पहला थ्रीसम शुरू हुआ ( मेरे अंतरंग जीवन की हमसफ़र -1 -10)

अब आगे:-

रोजी बोली ठीक है हरेक का अपनी भावना व्यक्त करने का और धन्यवाद करने का अलग तरीका है और इसका ये तरीका बहुत शानदार है। ये कह कर रोजी मेरे ऊपर झुकी और मुझे एक बहुत गरमा गर्म लिप किस करि। कुछ देर बाद हमने चुंबन तोड़ दिया तो रूबी ने मजाक में पूछा रोजी मुझे लगता है मुझे भी धन्यवाद देना चाहिए।"

"इसका लाभ उठाएं।"रोजी ने कहा।

उस टिप्पणी के बाद, एक सेकंड के अंदर ही रूबी के होठों ने मेरा एक जबरदस्त चुंबन किया ।

फिर रोजी बोली एक धन्यवाद मेरी तरफ से तो रूबी तुम्हारा भी बनता है जो तुमने मुझे दीपक जी से मिलवाया और प्रेम शास्त्र का अद्भुत अनुभव दिलवाया और रूबी को किश करने लगी ।रूबी भी उसी शिद्दत से रोजी को चूमने लगी । मैंने भी बोला रूबी का धन्यवाद तो मुझे भी देना चाहिए जो मुझे रोजी जैसी शानदार प्रेमिका से मिलवाया और रोजी का धन्यवाद के उसने मुझे इतना शुद्ध निर्मल और स्वार्थ रहित पूर्ण समर्पित प्रेम किया और उन चुम्बन करती हुई बहनो के चुम्बन में मैं भी शामिल हो गया।

इस तरह हमने एक थ्रीसम चुम्बन किया जिसमे तीनो एक दुसरे के ओंठो को चूस रहे थे।. ये बहुत शानदार अनुभव था। मैं रोजी और रूबी का ऊपर का ओंठ चूस रहा था तो रूबी और रोजी मेरा आधा नीचे का ओंठ चूस रही थी और तीनो की जीभे आपस में मिल रही थी। कुछ पता नहीं किसकी जीभ किसके साथ पेच लड़ा रही थी। तीनो की आँखे आनंद में बंद थी।

पता नहीं हम तीनो कितनी देर किस करते रहे। मेरे हाथ उनकी पीठ पर फिरते रहे और पीठ से होकर उनके एक स्तन पर पहुँच कर रोजी के दाए स्तन और रूबी के बाए स्तन से खेलने लग गए।

मेरे लिए ये शानदार सेक्स की सबसे शानदार शुरुआत है जो एक गर्म किश से शुरू होती है। योनि प्रवेश से पहले खुद को हुए अपने साथी को तैयार करना इसमें चूमना किश करना, सहलाना, प्यार करना,. मीठी बाते करना एक अच्छे सेक्स का बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा हैl इससे सेक्स का पूरा मजा मिलता है।

रूबी चुम्बन तोड कर सांस लेने के लिए रुकी तो तीनो ने एक दुसरे को देखा तो मैंने उसे वापिस नीचे खींच लिया और हमने दुबारा एक दुसरे को चूमना शुरू कर दिया और रूबी ने मेरी जांघों को रगड़ना शुरू कर दिया। फिर रोजी ने चुंबन तोड़ दिया , मैं रूबी की ओर मुड़ते हुए बोला मुझे लगता है मैं आप दोनों से बेहतर कर सकता हूँ। "

एक धीमी गति से मौन मंजूरी के साथ, रूबी ने उसकी सहमति दे दी है और रोजी ने मुझे एक और गर्म चुंबन दे दिया और जैसे रूबी मेरी जाँघे रगड़ रही थी वैसे ही उसका हाथ भी नीचे पहुँच गया और मेरी कठोर लंड को सहलाते हुए उसने उसे कस कर पकड़ कर दबोच लिया ।

जब रोजी ने अपना चुम्बन तोडा तो रूबी ने भी गर्म चुम्बन से लेकर मेरी छाती को अपने हाथो से सहलाते हुए उसका हाथ भी मेरे लंड पर पहुंचा । उसकी जांघो ने मेरी जांघ को रगड़ा और फिर उसने भी लंड को सहलाते हुए दबोच लिया ।

फिर जब रूबी का चुंबन समाप्त हो गया है, हमने आगे और पीछे एक दूसरे को देखा, ये हमारे लिए एक नया रोमांच था।

10 सेकंड के अंदर ही वे दोनों में झुक कर मेरी गर्दन को चूमने और चाटने लगी और मेरे सारे बदन पर उनके हाथ चल रहे थे फिर जब रोजी मेरी छाती को चूम और चाट रही थी तो रूबी मुझे लिप किश करने लगी । फिर जहाँ रोजी ने छाती को चूमना रोका वही से रूबी मेरी छाती को चूमना और चाटना शुरू कर देती थी और रोजी मुझे लिप कस करने लगी इस तरह बारी बारी से वैकल्पिक चुंबन और मुझे चूमना और चाटना चलता रहा और वह दोनों मेरे निप्पलों से बारी बारी खेलने और चूसने लगी। .ये एक अभूतपूर्व अनुभव था पूरा शरीर कुछ नया अनुभव कर रहा था । एक साथ ओंठो का चुम्बन और छाती के निप्पल को चुसवाना. मेर लंड फुफकार रहा था ।

इसके बाद पता नहीं कब मेरा हर हाथ से एक अलग चूत पर पहुँच गया था और तभी मैंने महसूस किआ कि दो जोड़ी हाथ मेरे बहुत खड़े हुए लंड से खेल रहे हैं।
मैंने शुरू में प्रत्येक चूत को अपने हाथ से सहलाया और फिर उन्हें रगड़ना शुरू कर दिया । जबकि मेरी उंगलियों ने हर एक के अंदर अपना रास्ता ढूंढ लिया। रूबी की चूत के अंदर मेरे एक हाथ की उंगलियाँ थीं, जबकि मेरे दूसरे हाथ की उंगलियाँ रोजी की चूत के अंदर थीं। मैं वो कर रहा था जो मुझे लगता था कि कभी भी नहीं होगा, एक ही समय में दो अलग-अलग महिलाओं की योनियों में अपनी उंगलियों के साथ खेलना । सच में ये एक अद्भुत अनुभव था । इस दौरान हमारी किस चलती रही ।

उनकी चूत पर हाथ फेरने के कुछ ही मिनटों के बाद रूबी और रोजी दोनों ने अपनी स्थिति बदल ली और अपने सिर को मेरे पैर की ओर करके बिस्तर पर लेट गईं। इस बदलाव के बबाद भी वे दोनों मेरे लंड के साथ खेलती रही , और लंड के ऊपर अपने हाथ एक साथ चलाती रही इससे पहले कि मुझे यह समझ आये कि क्या हो रहा है । मैंने महसूस किया कि होंठों की एक जोड़ी ने मेरे लंड को घेर लिया है और नीचे की ओर से उँगलियों से लंड को पकड़ लिया था, जिससे लंड सीधा खड़ा रहे ।

मैंने नीचे देखा और देखा कि रूबी मेरा लंड अपने मुँह में लेकर चूस रही थी जबकि रोजी ने मेरा लंड पकड़ रखा था। रोजी ने रूबी के लिए एक ऐसे स्थिति में मेरा लंड अपने हाथ से उसके बेस पर पकड़ रखा तह जिससे रूबी को लंड चूसने में कोई दिक्कत न हो । इस तरह से रूबी ने मेरे लंड को पहली बार चूसा था । कुछ देर बाद इसी का अनुसरण करते हुए रोजी ने मेरा लंड चूसा और रूबी ने मेरा लंड उसके लिए पकड़ा । इसी तरह दोनों ने कई बार बारी बारी से मेरा लंड चूसा मैं उन्हें मेरा लंड चूसते हुए देखता रहा।

मेरे लिए ये अद्भुत अनुभव था जब पहली बार इस तरह से मेरा लंड दो लड़कियों ने एक साथ बारी बारी से चूसा हो । फिर उन दोनों ने मेरा लंड अब एकसाथ चूसना शुरू कर दिया । रोजी मेरे लंडमुंड को मुँह में दाल कर चूसने लगी और रूबी बाकी के खड़े हुए कठोर लंड की पूरी लम्बाई को चूसने लगी।

उनका भी पहला थ्रीसम होते हुए भी उनका सामंजस्य अद्भुत था । ऐसा नहीं लग रहा था ये उनका भी पहला थ्रीसम है । फिर दोनों ने आधा आधा लंड चूसना शुरू कर दिया । रोजी ने दायी और से चूसना शुरू किया और रूबी ने बायीं और से चूसना शुरू कर दिया । दोनों ऊपर से शुरू करती फिर लंड पर झीभ फेरते हुए नीचे तक जाती फिर जड़ से वापिस ऊपर तक आती। मैं तो बस जन्नत में था।

फिर मेरा ध्यान मेरे सर के दोनों और उनकी चूत पर गया जो मेरे मुँह के पास थी । दोनों लड़किया इस तरह से लेटी हुई थी के उनकी चुत मेरे मुँह के बिलकुल पास थी ।रोजी की चुत बायीं और और रूबी की चूत सिर के बाईं ओर थीl मुझे केवल अपना सिर एक तरफ से दूसरी तरफ मोड़ना था और मेरा मुंह रूबी और रोजी की चूत पर टिका कर उन्हें बारी बारी चूसने लगा । मैं पहले एक चूत को चूसता और चाटता था फिर सर घुमा कर दूसरी को चूसने और चाटने लगता ।

मैं कई बार आगे पीछे होकर रूबी और रोजी की चुत को बारी बारी चूमता चूसता रहा । मैं उनकी चुत की पूरी लम्बाई और गहराई में अपनी जीभ चला रहा था । मैंने जीभ से उनकी चुत की गहराई की जांच करि । हालाँकि मेरा लंड कई बार उनकी चुत की गहराइयों की जांच कर चूका था पर जीभ से जांच करने का ये अनुभव स्पेशल था । मैंने उसकी चुत को इस प्रकार से चाटा बिल्ली कटोरे से दूध चाट जाती है । मैंने बिल्ली के समान गति का उपयोग करते हुए इसकी गहराई की जांच की।

बीच मैं कभी-कभी उनकी छत के दाने को भी चूसना शुरू कर देता और फिर उनकी योनि के बाहरी होठों की पूरी लंबाई को अपने मुँह में लेकर चूसता और फिर अचानक अपनी जीभ को जितना हो सके उनकी योनि की गहराइयों में घुसा देता था । हालांकि मुझे पता था कि मेरा मुँह दोनों में से किस की चुत पर था पर मैं उन्हें उनके स्वाद से भी बताने में सक्षम था। रोजी की चूत को स्वाद लगभग मीठा और हल्का था; जबकि रूबी की चूत का तीखा और तेज स्वाद था।

उसके बाद हमने स्थिति बदल दी जिसमे रोजी और रूबी दोनों एक-दूसरे के बगल में अपनी पीठ पर लेट गए। इसने मुझे प्रत्येक महिलाओं में से एक के साथ 69 करने की सुविधा दी। जब मेरा चेहरा रूबी या रोजी की चूत पर था, तो मैं उस पर लेट जाता और अपनी जीभ को उनकी चूत में जहाँ तक मैं पहुँच सकता था डाल देता था । वही मेरा लंड उसके मुँह में होता था ।

जिस तरह वो मेरे लंड को चूस रही थी मैं भी उसी तरह उसकी चूत के हिस्सों को अपने मुँह में ले लेता और उसे उसी तरह से चूसता जैसे वो चूस रही थी । पूरे समय यही होता रहा जब वो मेरा लंड मुँह की गहराइयों में लेकर चूसती रही और उसी तरह मैं उसकी चुत चूसता रहा । मैं फिर दूसरी लड़की के साथ ऐसा ही करता हूं, फिर से एक से दूसरे चुत पर बारी बारी से चूसने लगा । जब मैं अपना चेहरा रोजी या रूबी की चूत पर लगा कर चाटता था उसी समय दूसरी की चूत को मेरी उँगलियाँ जितनी हो सकती थीं और उसे अपने हाथ से चोद रहा था। इस दौरान दोनों दो बार झड़ चुकी थी ।

मैं आज दोनों को बराबर समय और प्यार देना चाहता था, तो रोजी बोली अब आप पहले रूबी को चोदिये मैं उसकी चूत का जितना हो सकता था चोदना चाहता था, लेकिन मैं रोजी को यह सोचने के लिए नहीं चाहता था कि मुझे आज केवल रूबी में दिलचस्पी थी। मैंने निश्चय किया मैं जो भी रोजी के साथ किया वही मैं रूबी के साथ करूंगा और मैं रूबी के साथ जो भी करूंगा वही मैं रोजी के साथ भी करूंगा। मैंने उनमें से प्रत्येक के साथ समान व्यवहार करने की कोशिश की।

रूबी और रोजी अपने समय को विभाजित करने के लिए स्वतंत्र थी । उन दोनों की हरकते और मेरे लंड को चूसने का समय अलग अलग था । हम आखिरकार मैं पीठ पर आ गया और रूबी या रोजी मेरे मुँह पर बैठ गयी और मैं उनकी चुत को खाने लगा जबकि इस दौरान दूसरी मेरे लंड को शानदार तरीके से चूसती । फिर उन्हों ने कई बार अपनी स्थिति बदली ताकि मैं उनकी चुत को अछि तरह से चाट सकू और फिर वो मेरा लंड भी चूस सके।

अब चुकी मैं प्रत्येक छोर पर एक समय में मैं एक को ही समायोजित कर सकता था, तो फिर मैंने सुझाव दिया क्यों न त्रिकोण बना कर किया जाए।इससे तीनो के मुँह और जानाँनग का भरपूर उपयोग हो सके, तो मैं साइड पर लेट गया और रूबी ने अपनी चुत मेरे मुँह के पर रखी और अपना मुँह मेरे लैंड के तरफ कर साइड पर लेट गयीl उसके बाद रोजी भी इस तरह से लेटी के मेरा लंड उसके मुँह में था और उसकी चुत रूबी के मुँह के पास थी। अब तीनो के मुँह चल रहे थे।
कुछ देर बाद दोनों ने अपनी स्थिति बदल ली इसके बाद मेरा मुँह रोजी की चुत पर चल रहा था और रोजी का मुँह रूबी की चुत पर था और रूबी का मुँह मेरे लंड पर था ।

इस पूरे समय में यह सब हो रहा था हमारे छह हाथ चार उपलब्ध स्तनों और निप्पल्स के साथ खेल रहे थे। इस तरह हम तीनों ने काफी समय बहुत सारे मौखिक सेक्स के अलावा एक-दूसरे के शरीर के साथ खेलने और और छेड़ छाड में बिताया।

मुझे इनमे से सबसे ज़्यादा मज़ा तब आया, जब रूबी और रोजी दोनों एक साथ अपने मुँह को मेरे लंड के दोनों तरफ रखेंगी और दोनों अपने मुँह को एक साथ ऊपर-नीचे करती थी इस मौके पर उनमें से एक ने मेरे लंड की पूरी लंबाई को अपने मुँह में ले लिया तब भी बहुत मजा आया ।

आगे क्या हुआ ... ये कहानी जारी रहेगी ..


अगले भाग में  रूबी और रोजी के साथ सामूहिक सेक्स की कहानी जारी  रहेगी- अंतरंग हमसफ़र भाग 12


दीपक
Reply
03-07-2021, 05:56 PM,
#13
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
Update 12

रूबी और रोजी के साथ सामूहिक सेक्स- अंतरंग हमसफ़र भाग 12



अंतरंग हमसफ़र भाग 11 में आपने पढ़ा;

कुछ देर बाद दोनों ने अपनी स्थिति बदल ली इसके बाद मेरा मुँह रोजी की चुत पर चल रहा था और रोजी का मुँह रूबी की चुत पर था और रूबी का मुँह मेरे लंड पर था ।

इस पूरे समय में यह सब हो रहा था हमारे छह हाथ चार उपलब्ध स्तनों और निप्पल्स के साथ खेल रहे थे। इस तरह हम तीनों ने काफी समय बहुत सारे मौखिक सेक्स के अलावा एक-दूसरे के शरीर के साथ खेलने और और छेड़ छाड में बिताया।

मुझे इनमे से सबसे ज़्यादा मज़ा तब आया, जब रूबी और रोजी दोनों एक साथ अपने मुँह को मेरे लंड के दोनों तरफ रख और दोनों अपने मुँह को एक साथ ऊपर-नीचे करती थीl इस मौके पर उनमें से एक ने मेरे लंड की पूरी लंबाई को अपने मुँह में ले लिया तब भी बहुत मजा आया।

मैं दीपक आपने मेरी कहानिया "झट शादी पट सुहागरात-1-4" में पढ़ा कैसे मेरी सहयोगी प्रीती दुल्हन बन कर सुहागरात मनाने को तैयार हो गयीl उसके बाद मेरी और मेरे घर की देखभाल करने वाली रोजी और रूबी मिली और मेरी पहली चुदाई के बारे में पूछने लगी, तो मैंने उसे बताया किस तरह मैं रोज़ी और रूबी से मिला, कैसे मेरी और रोजी की पहली चुदाई हुईl उसके बाद कैसे मैंने रूबी को चोदाl फिर हमारे गाँव के प्रवास के आखिरी दिन जंगल में हमने ग्रुप सेक्स और प्रेमिकाओ की अदला बदली का कार्यक्रम बनायाl रोजी ने हमे अपनी सहेली टीना से मिलवाया और टीना की पहली चुदाई कैसे हुईl फिर छोटे योनि के छेद वाली मोना को मैंने चोदाl रात में एकबार फिर सबका एक साथ ग्रुप सेक्स हुआ, और रोजी मेरे साथ शहर आ गयीl उसके बाद मेरी बुआ और उनकी तीन बेटियों लंदन से दिल्ली हमारे घर आयेl मैं मेरी बुआ की सबसे बड़ी बेटी जेन के साथ शाम के समय मैदान में घूमने गया और वहां उससे प्रेम निवेदन किया और रात में रोजी और रूबी के साथ हमारा पहला थ्रीसम शुरू हुआ ( अंतरंग हमसफ़र भाग -1 -11)l

अब आगे:-

रोजी ने आखिरकार मुझसे कहा कि मुझे उसकी चुदाई करने से पहले रूबी को चोदना चाहिए। मुझे इस बात का इंतज़ार था, कि हम दोनों साथ-साथ रहें क्योंकि थ्रीसम का पूरा इरादा मेरे लिए रोजी और रूबी दोनों को चोदना था। मुझे पता था कि मेरा लंड त्यार था उस की चूत में घुसने के लिए और दोनों की जबरदस्त चुदाई करेगा

रोजी बिस्तर पर इस तरह से बैठ गयी ताकि वह मेरे लंड रूबी की योनि के अंदर जाते हुए आसानी से देख सकेl मैं अभी भी अपनी पीठ पर था और मेरे लंड की पूरी लंबाई रूबी के मुँह में थी। उसके बाद रूबी ने मेरे लंड को अपने मुंह से निकाला, मेरे कूल्हों के दोनों ओर एक एक पैर करते हुए खुद को खड़ा किया और और फिर नीचे बैठते हुए उसने मेरा लंड अपनी चूत में लेने के लिए तैयार किया।

रोजी ने मेरा लंड रूबी की चूत के द्वार पर लगा दिया। जब उसने खुद को मेरे लंड पर उतारा तो रूबी की चुत मेरे लंड को पूरा निगल गयी। रूबी की चूत अब पूरी तरह से मेरे लंड के चारों ओर लिपटी हुई थी। मैंने महसूस किया रूबी की चूत की योनि मोना की चुत जैसी ही टाइट हो गयी थी और उससे पहले मैंने जिस रूबी की चुदाई की थी, ये उससे बहुत टाइट हो गयी थीl मुझे लगा ये लड़की वह नहीं थी जिसे उससे पहले मैंने चोदा था। मैं काफी हैरान था पर उसकी टाइट चुत के कारण बहुत मजा आ रहा थाl ऐसा लग रहा था की आज मैं उसे पहली बार चोद रहा थाl

मेरे लंड पर बैठ कर जिस तरह से उसने उस दिन थ्रीसम के दौरान मुझे चोदा, तो मुझे कुछ नहीं करना था, बस वहीं लेटा रहा, और चुदाई का मजा ले रहा था। वो भी मेरे लंड को अपने अंदर लेने के एहसास को महसूस कर मजे ले रही थी और मुझे अपनी चूत को देने का आनंद ले रही थी। कुछ देर तक वो ऊपर नीचे होती रहीl इस तरह चोदने का आनंद लेने के बाद मैं भी उससे मिलने के लिए नीचे से अपने चूतड़ उठा कर जोर लगाने लगाl जब भी उसकी चूत नीचे और मेरे लंड के आसपास आती थी. मैं भी नीचे से एक धक्का ऊपर को लगा देता था. जिससे उसकी आह निकल जाती थी । फिर तो हम रिदम में ताल से ताल मिला कर चुदाई करने लगे जब मैं इस तरह रूबी को चोद रहा था. तो रोजी मेरे लंड को रूबी के अंदर बाहर जाते हुए देखने के लिए बगल में लेटी हुई थी ।

फिर रोजी उठी और मेरे लैंड को नीचे आकर मेरे अंडकोषों को चूमने लगी, और साथ के साथ जब रूबी ऊपर होती तो वो मेरे लंड को भी चूमने लगी और बीच बीच में रूबी की चूत को भी चूम लेती थीl इस तरह से रूबी की चुदाई का मजा दोगुना हो गया और इस बीच मैं उसके स्तनों से खेलता रहा कुछ देर बाद मेरे लंड के प्रहारों और रोजी के चूमने के कारण रूबी झड़ गयी और मेरे ऊपर हो होl आह! आह! ओह्ह! ओह्ह! करती गिर गयी ।

और इस तरह आखिरकार रूबी ने मुझे चोदना बंद कर दिया और नीचे उतर कर लेट गयी मैं अपनी पीठ से उठ गया और खुद रोजी के ऊपर आ गया । मैंने धीरे से उसकी बहुत गीली हो चुकी चूत में प्रवेश किया जो चुदाई के लिए एकदम तैयार थी। मैं चुदाई के दौरान उसकी चूत के भीतर हर लहर महसूस कर पा रहा था क्योंकि मैंने अपना पूरा लंड उसकी गहराइयों में सरका दिया था । इस तरह से मैंने रोजी को काफी देर तक चोदा।

मुझे जल्द ही पता चला कि रूबी की चुदाई के पसंदीदा आसन पीठ के बल लेटते हुए पैर फैला कर ऊपर उठा कर, चुदाई करवाना है। इस आसन में जब हमने चुदाई की तो मैं उसके ऊपर था इस पोज़िशन मैं उसके ऊपर था और मेरा लंड उसकी चूत में गहराई तक घुस गया। जब मैं रूबी को चोद रहा था, तो रूबी हमारे बगल में लेटी हुई. मुझे रूबी की चुदाई करते हुए देख रही थी और गर्म से गर्मतर हो रही थी

मैंने थोड़ी देर के लिए रूबी की चुदाई की और फिर अपना ध्यान रोजी की तरफ किया और रोजी को चोदने लगा और रूबी हमे देखने लगी । रोजी अपनी पीठ पर थी उसने अपने पैरों को ऊपर खींचा और घुटनों पर झुकाते हुए उन्हें दूर तक फैलाया और उसकी चुदाई करनी शुरू कर दीl इसने मेरे लंड को रोजी की चूत में गहराई तक घुसने दिया।

जब मैं रोजी को चोद रहा था रूबी लगातार हम दोनों को छू रही थी उसने पूरे समय हमारी चुदाई को देखा। कभी-कभी रूबी भी रोजी की चूत पर हाथ रख देती थी और रोजी को चोदते समय मेरे लंड को छू लेती थी। मुझे सहलाने और चुम्बन करने के बावजूद उसके हाथ मुख्य रूप से रोजी के निप्पल्स के साथ खेल रहे हैं और उसे चुंबन कर रहे थे । इस बीच मैं लंड को आगे पीछे करता रहा और फिर थोड़ी देर के लिए रोजी को चोदता रहा। .

फिर मैंने नए नए प्रयोग करना शुरू कर दिया जो मैं अगर मेरे पास चुदाई करने के लिए दो छूटे हो तो उनके साथ करने की सोच सकता था । उन दोनों ने उनकी पीठ के बल साथ साथ लेटाकर मैं पहले एक से चोदता और फिर दूसरी को । फिर मैं भी दोनों में से एक को चोदता और अपना चेहरा दूसरी की चूत में घुसा देता । फिर मैं लड़की बदल देता और जिसे छोड़ता था उसकी चूत को चूसता और दूसरी की चूत को चोदने लगा ।

जब मैं इनकी भगनासा को उसी तरह से चूसता था जिस तरह से वे पहले मेरा लंड चूसते रहे थे तो वे दोनों बेकाबू हो गयी । इसके इलावा जब मैं रूबी या रोजी को छोड़ता था तो उसे चोदने के दौरान दूसरी की चूत को चूसूंने लगा । उसके बाद बदल कर फिर मैं जिसको चोद रहा था उसकी चूत को चूसूंगा और जिसे चूस रहा था उसे चोदने लगता था ।

इन सब पर मैं पहले दोनों में से एक को चोदता और फिर दूसरे को और फिर ऐसा करते हुए दोनों को कई बार चोदता। ऐसा मैंने कई बार किया । जितनी बार मैं उनमें से एक को चोद रहा था, उतनी ही बार मेरा हाथ उसकी चूत में ज्यादा से ज्यादा छेद चाँद करता था या मैं उसकी क्लिटोरिस से खेलता था । मैं कभी-कभार महसूस करता हूँ कि जो मुझ से चुद नहीं रही होती थी, वह कभी कभी मेरे लंड और चुद रही चूत को छू रहा होता थाl इस दौरान दोनों लड़किया कई बार झड़ीl जो झड़ जाती थी उसे छोड़ कर मैं दूसरी को चोदने लग जाता था ।

मुझे आज तक इस बात का कोई अंदाजा नहीं है कि मैं उन्हें एक साथ इस तरह से चोदना चाहता थाl इस तरह बार बार चोदते हुए उन दोनों को बिना एक भी बार झड़े नॉन स्टॉप ओरल सेक्स करते हुए उन्हें चार घंटे तक चोद पाया और मैं झड़ने के कगार पर पहुँच गया। पता नहीं ये बीच बीच में पार्टनर बदल लेने का परिणाम था या भवनाओ का अतिरेक या उस दिन कोई जादू हुआ था।

जब मेरा लंड रूबी की चूत के अंदर था और रोजी ने देखा कि मैं झड़ने के करीब था तो वह बिस्तर पर एक तरफ हो गयी और हमे देखने लगी, जहाँ उसने मेरे द्वारा रूबी को चोदने और उसके अंदर झड़ने के लिए मेरा इंतजार किया। रोजी द्वारा हमें अकेला छोड़ने का इरादा मुझे रूबी के साथ अकेले रहने की अनुमति देता था ताकि हम एक-दूसरे को निजी तौर पर चोदते हुए चरमोत्कर्ष प्राप्त कर सके।

हालाँकि मुझे ज्यादा अच्छा लगता अगर रोजी उस समय जब मैं रूबी की चूत में झड़ने लगता, तो रोजी मेरे पास रहती और मुझे छूती चूमती और सहलाती। रोजी के एक तरफ हो जाने के बाद मैंने एक बार फिर खुद को रूबी की सीधी टांगों के बीच फँसा लिया और अपना लंड उसकी इंतज़ार करती हुई चूत में सरका दिया।
मैंने उसे इस प्रकार चोदना शुरू किया जैसे उसे उस रात में आखिरी बार चोद रहा हूँ। मैं रूबी को सबसे अच्छी चुदाई देना चाहता था जो कि मैं उसे बहुत मजबूत संभोग बनाकर करने में सक्षम था। मैं भी रूबी को चोदने की अपनी क्षमता से प्रभावित करने की कोशिश कर रहा था और उसे दिखाना चाहता था कि चाहे वह कितने भी लड़को से चुदवा चुकी हो, मैं चुदाई करने में उन सबसे अच्छा और बेहतर था। उसके बाद मैंने रूबी की चूत में कस कस कर लम्बे लम्बे शॉट लगाए जिससे उसका पूरा बदन हिल जाता था और हर शॉट के साथ उसकी एक जोरदार आह निकलती थीl

इस जबरदस्त चुदाई से जैसे ही रूबी अपने कामोन्माद के पास पहुंची, उसने अपने हाथ ऊपर उठाते हुए उसके सिर पर वापस फेंक दिए और बिस्तर के हेडबोर्ड पर पकड़ लिया और जोर से कराहने लगी। उसने हेडबोर्ड पर अपनी पकड़ तब तक जारी राखी जब तक कि हम दोनों एक साथ नहीं चरमोत्कर्ष पर नहीं पहुँच गए। रूबी अब अपने शरीर पर पूरा नियंत्रण खो चुकी थी और एक जंगली चुदाई की मशीन बन गई थी। वह उस मुकाम पर पहुंच गई थी, जहां सिर्फ दो चीजें मौजूद थीं, उसकी चूत और मेरा लंड जो उसकी चूत को चोद रहा था ।

उस समय मैं उसे ऐसे चोद चोद रहा था जैसे कि वह फिर कभी नहीं चुदी होगी और चिल्लाने लगी "दे दो बेबी। यह मुझे दे दो बेबी। और जोर से । " मैं आज उस लड़की को खुल कर चोद रहा था जिसे मैंने सबसे पहले अपने फूफेरे भाई बॉब से चुदते हुए देखा था और पूरी तरह से उसके साथ चुदाई का आनंद ले रहा था
क्योंकि मैं उसे वही दे रहा हूं जो वह चाहती है। "

मैं अपने नीचे मेरी जबरदस्त चुदाई के कारण हो रही रूबी के शरीर की प्रतिक्रिया को महसूस कर रहा था क्योंकि उसका शरीर कांपने लगा वह एक जबरदस्त ओर्गास्म अनुभव कर रही थीl उसने मेरे लंड को अपने जलाशय के अमृत से पूरा नहला दिया। लगभग उसी के साथ रूबी ने ऐसे चिल्लाना शुरू किया जैसे उसे बहुत तीव्र दर्द हो रहा हो । रूबी की उस कम्पन भरी चिल्लाहट से चार घंटे से ज्यादा देर से उत्तेजित मेरे लंड ने भी रूबी की चूत में बड़ी भारी मात्रा में लावे का विस्फोट कर दियाlजिसके बाद मेरे आधा दर्जन अतिरिक्त डिस्चार्ज और थे, प्रत्येक पूर्ववर्ती की तुलना में मात्रा में छोटे थे । रूबी की चूत में मेरे आखिरी शॉट के साथ मैंने कुछ शॉट और लगाए और उसके बाद उसके ऊपर गिर गया, थक गया। उसकी आश्चर्यजनक रूप से कसी हुई चूत के कारण रूबी ने मुझे एक बहुत अच्छी चुदाई का भरपुर मजा दिया ।

हम दोनों कुछ देर तक एक दुसरे की बाहों में बिस्तर पर लेट, वह मुझे पकड़ कर आलिंगन करती रही और हम चुंबन का आदान-प्रदान करते रहे । रूबी कुछ देर वैसे ही लेते रहना चाहती थी और एक दुसरे की बाहो में लिपटे हुए चुंबन कर रही थी जैसे हम दोनों अमर प्रेमी हो ।

जब हम्मारी साँसे कुछ संयत हुई तो रोजी और मैं आखिरकार बिस्तर से उठ गए तो रोजी जो हमे देख रही थी और हमारा इंतजार कर रही रोजी ने हमें उसके चेहरे पर मुस्कान के साथ अभिवादन किया और मुझसे कहा, "क्या आपको रूबी को चोदने में मज़ा आया?" जिस पर मैंने जवाब दिया, "बेशक।" उसकी अगली टिप्पणी थी, "मुझे यह नहीं पूछना है कि क्या रूबी को मज़ा आया। मैंने यह सुना।" हम तीनों के बीच थोड़ी सी बातचीत हुई और यह निर्णय लिया गया कि हमें अक्सर थ्रीसम के लिए मिलते रहना चाहिए । फिर रूबी बोली अगर अब आप चाहते हैं तो कुछ देर आराम कर लीजिये या एक बार रोजी को भी चोद लीजिये
भले ही मैं रूबी और रोजी दोनों को चोदने से थक गया था, और विशेष रूप से रूबी को , मैंने एक बार रोजी की चूत में लंड घुसा दिया और उसे चोदना शुरू कर दिया। हम वहां अंधेरे में लेटे रहे, एक-दूसरे से प्यार करते रहे, और फिर तीनो साथ में जो हुआ था उसके बारे में बात करते हुए चिपक कर सो गए।
अगली सुबह रूबी अपने कमरे में चली गयीl अगला दिन मौसम शानदार था और मैंने रोजी से कहा शायद आज कमरे में कोई मेहमान आएगा. तो जरूरी व्यवस्था कर देना जैसे ही नाश्ता खत्म हुआ तो बुआ और फूफा किसी रिश्तेदार से मिलने चले गए और बाकी लोग अपने पूर्व निर्धारित कार्य बॉब पुस्तक पढ़ रहा था, टॉम बिस्तर पर था , और जेन की बहने TV. देखने में व्यस्त हो गयीl

मैंने और जेन ने टहलना शुरू कर दिया, विशेष रूप से मेरे दिमाग में था की बुआ और फूफा लंच के लिए वापस आ सकते हैं ।

मैं और मेरी खूबसूरत फूफेरी बहन के साथ बगीचे से आगे और मैदान से बाहर निकल गए, मैंने उसकी तारीफ करनी शुरू कर दी थी और धीरे धीरे हमारी बातचीत बहुत गर्म हो गई, और शर्म के मारे जेन का चेहरा उसके दौड़ते गर्म खून के कारण सुर्ख लाल हो गया ।

" आप बहुत बदमाश हो गए है दीपक। जब हम पहले यहाँ आये थे तो आप इतने अशिष्ट लड़के नहीं थे। मुझे आपके बात करने के तरीके पर शरम आ रही है, दीपक!" वह आखिरकार अपनी चुप्पी तोड़ती हुई बोली।

" मेरी प्यारी, जेन," मैंने जवाब दिया, "सुंदर लड़कियों, सुंदरियों की शानदार टाँगे उनके पैरों और सुन्दर उन्नत छातियों की, और उन सभी के बारे में और उनके साथ मस्ती करने और मस्ती की बात करने के ज्यादा और अधिक सुखदायक क्या हो सकता है?

मैं आपको बता नहीं सकता मैं आपकी ख़ूबसूरती का कैसा दीवाना हो गया हूँ कल के बाद से आज मैं आपके ही खयालो में डूबा रहा हूँ मैं आपके खूबसूरत टांगो की एक झलक देखने को बेकरार हूँ जिनकी मुझे एक झलक मिली है और मैं यही सोच रहा हूँ के आपकी ख़ूबसूरती को किस तरह से प्यार करना चाहिए?"

ये कह कर मैं एक छायादार पेड़ के नीचे रुक गया और उसे अपने पास खींच लिया, फिर वही घास का मैदान जो की पेड़ो के झुरमुट में छिपा हुआ था उसमे लेट कर, अपने पास घास पर नीचे, आधे मन से विरोध करती हुई जेन को अपने पास खींच लिया , और उसको ओंठो पर पूरी शिद्दत के साथ चूमने के बाद मैं बड़बड़ाया, "ओह! जेन, आपका चुम्बन बिलकुल आपकी ही तरह मीठा है, मीठे प्यार की तरह जीने लायक कुछ और भी है क्या?"

उसके होंठ मुझे एक उग्र आलिंगन में मिले थे, लेकिन अचानक खुद को मुझ से अलग करते हुए, उसकी आँखें नीचे झुक गईं, और भयानक रूप से हतोत्साहित दिखते हुए, उसने हकलाते हुए कहा, "यह क्या है? तुम्हारा क्या मतलब है, दीपक?"

"आह, मेरी प्यारी जेन, तुम इतनी मासूम तो नहीं हो? तुम देखो इधर प्रेम औजार तुम्हारी गदरायी जाँघों के बीच समाने के लिए बेताब हैl " मैं फुसफुसाते हुए ,उसका हाथ पकड़ कर मेरे लंड पर जिसे मैंने पेण्ट की ज़िप से बाहर निकाल लिया था और अब तक पूरा कठोर हो चूका थाl उस पर रख कर बोला " इसे अपने हाथ में पकड़ लो, प्रिय, क्या यह संभव है कि आप यह नहीं समझती कि यह किस लिए है?"

उसका चेहरा उसके बालों की जड़ों तक लाल हो गया था, क्योंकि उसके कांपते हुए हाथ ने मेरे उपकरण को पकड़ लिया था, और उसकी आँखें लंड श्री के अचानक स्पष्ट होने पर डर के मारे लाल हो गयी थी। वह डर भी रही थी और हैरान भी हो रही थी और इसके मुँह से बस इतना निकला "ओह माय गॉड! इतना बड़ा! " और उसका हाथ मेरे लंड के ऊपर ऐसे सरक रहा था जैसे वह माप ले रही होl उसके बाद वो आवाक सी मेरे लंड् को ताकने लगी . मैंने उसके अवाक भ्रम का फायदा उठाते हुए, उसकी लाल लंग की स्कर्ट के अंदर नीचे फिसलते हुए, जल्द ही उसके जांघो के बीच के जगह पर कब्जा कर लिया, और उसकी जांघों के घबराहट भरे संकुचन के बावजूद, मेरी उंगलियों ने अग्रदूत की तरह उसकी कुंवारी भगशेफ की खोज शुरू की ली । उसने अपनी जाँघे कस कर भींच ली ।

"आह! ओह! ओह! नहीं प्लीज दीपक नहीं वहां नहीं? आप क्या चाहते हो? आप क्या खोज रहे हो?"

उसे नए सिरे से सुस्वाद चुंबन के साथ उसे अपने साथ लपेटते हुए , उसके होंठ के बीच मेरी जीभ की मखमली अगले हिस्से को घुसाते हुए मैं फिर से फुसफुसाया

"यह सब प्यार है , प्रिय जेन , प्लीज अपनी जांघों को थोड़ा सा खोलिये और मेरी ऊँगली आप को मजे का अद्भुत अनुभव देगी ।"

"ओह! ओह! नहीं आप चोट करेंगे और मुझे दर्द होगा!" वह बोलने के बजाए आहें भरती दिख रही थी, लेकिन चुम्बन से मिलने वाले आनंद से उसके पैरों ने अपने अकड़ने वाले संकुचन को थोड़ा ढीला कर दिया था।

मेरे होंठ उसके ओंठो के साथ चिपके रहे, हमारी भुजाओं ने एक दूसरे को कमर के करीब से जकड़ा हुआ था, उसका हाथ मेरे कठोर लंड की ऐंठन को पकडे हुए था, जबकि मेरे दुसरे हाथ की उंगलियां क्लिटोरिस और उसकी योनि के साथ व्यस्त थींl उस समय केवल हमारे चुंबन और हमारी आह की आवाज ही वहां सुनाई दे रही थीl ये तब तक चलता रहा जब तक मेरे द्वारा उसकी चूत की छेड़ छाड़ और उसके चूत के दाने को सहलाने के कारण उसका शरीर हल्का सा थर्र्राया और मेरी उंगलियो ने उसकी योनि से निकलता हुआ गीलापन महसूस किया। और वह तेज तेज साँसे लेती हुई धीमे से मेरे कानो में बोली "ओह! दीपक मजा आ गया! अरे ये मुझे क्या हुआ?" "मुझे माफ़ कीजियेगा मैंने आपका हाथ गीला कर दिया।" वह शर्माते हुए बोलीl

ये कह कर मैं चुप हो गया क्योंकि मैं भी उस अनुभव की यादो में खो गया था, तो प्रीती बोली आगे क्या हुआ जेन के साथ आपका मिलन, कैसे, और कहाँ हुआ.. बताइये प्लीज!

ये कहानी जारी रहेगी

अगले भाग में जेन  की कहानी जारी  रहेगी- अंतरंग हमसफ़र भाग 12


दीपक
Reply
03-16-2021, 05:42 AM,
#14
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र-13
Update 13

जेन के साथ सेक्स.- अंतरंग हमसफ़र भाग 13

"मेरे अंतरंग जीवन की हमसफ़र -12 " में पढ़ा



मेरे होंठ जेन के ओंठो के साथ चिपके रहे, हमारी भुजाओं ने एक दूसरे को कमर के करीब से जकड़ा हुआ था, उसका हाथ मेरे कठोर लंड की ऐंठन को पकडे हुए था, जबकि मेरे दुसरे हाथ की उंगलियां क्लिटोरिस और उसकी योनि के साथ व्यस्त थींl उस समय केवल हमारे चुंबन और हमारी आह की आवाज ही वहां सुनाई दे रही थीl ये तब तक चलता रहा जब तक मेरे द्वारा उसकी चूत की छेड़ छाड़ और उसके चूत के दाने को सहलाने के कारण उसका शरीर हल्का सा थर्र्राया और मेरी उंगलियो ने उसकी योनि से निकलता हुआ गीलापन महसूस किया। और वह तेज तेज साँसे लेती हुई धीमे से मेरे कानो में बोली "ओह! दीपक मजा आ गया! अरे ये मुझे क्या हुआ?" "मुझे माफ़ कीजियेगा मैंने आपका हाथ गीला कर दिया।" वह शर्माते हुए बोलीl "


मैं दीपक आपने मेरी कहानिया "झट शादी पट सुहागरात-1-4" में पढ़ा कैसे मेरी सहयोगी प्रीती दुल्हन बन कर सुहागरात मनाने को तैयार हो गयीl उसके बाद मेरी और मेरे घर की देखभाल करने वाली रोजी और रूबी मिली और मेरी पहली चुदाई के बारे में पूछने लगी, तो मैंने उसे बताया किस तरह मैं रोज़ी और रूबी से मिला, कैसे मेरी और रोजी की पहली चुदाई हुईl उसके बाद कैसे मैंने रूबी को चोदाl फिर हमारे गाँव के प्रवास के आखिरी दिन जंगल में हमने ग्रुप सेक्स और प्रेमिकाओ की अदला बदली का कार्यक्रम बनायाl रोजी ने हमे अपनी सहेली टीना से मिलवाया और टीना की पहली चुदाई कैसे हुईl फिर छोटे योनि के छेद वाली मोना को मैंने चोदाl रात में एकबार फिर सबका एक साथ ग्रुप सेक्स हुआ, और रोजी मेरे साथ शहर आ गयीl उसके बाद मेरी बुआ और उनकी तीन बेटियों लंदन से दिल्ली हमारे घर आयेl मैं मेरी बुआ की सबसे बड़ी बेटी जेन के साथ शाम के समय मैदान में घूमने गया और वहां उससे प्रेम निवेदन किया और रात में रोजी और रूबी के साथ हमारा पहला थ्रीसम हुआl अगले दिन सुबह अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार मैं और जेन नाश्ते के बाद घूमने निकले ( मेरे अंतरंग जीवन की हमसफ़र -1 -12)।


अब आगे


ये कह कर मैं चुप हो गया क्योंकि मैं भी उस अनुभव की यादो में खो गया था तो प्रीती बोली आगे क्या हुआ? जेन के साथ आपका मिलन कैसे और कहाँ हुआ.. बताइये प्लीज ।


तो मैं बोला;


थोड़ी ही देर में जेन की उखड़ी हुई साँसे, संयत हो गयी और फिर मैंने उसे समझाया कि जिस परमानंद को उसने अभी महसूस किया था, वह केवल उस खुशी का थोड़ा सा संकेत मात्र था जो मैं उसे दे सकता था, अपने लंड को उसकी योनि में डालकर। मेरी मजेदार प्रेरक वाक्पटुता और उसकी इच्छाओं की गर्माहट ने जल्द ही उसके सभी स्त्री सुलभ डर और दबाव को खत्म कर दिया, और वो मुझे चूमने लगी मेरे लिए इतना इशारा काफी था।


फिर उसकी ड्रेस को नुकसान पहुंचने के डर से, या मेरे हल्के सफ़ेद रंग की पतलून के घुटनों पर घास का हरा दाग लगने के डर से, मैं उसे एक गेट जो वहां था उस पास ले गयाl मैंने उसे गेट के पास खड़े होने के लिए राजी कर लिया और मैं उसके पीछे आ गया। उसने गेट का एक हिस्सा पकड़ते हुए अपना चेहरा अपने हाथों में छिपा लिया, जैसे ही मैंने धीरे से उसकी ड्रेस उसके नितम्बो से ऊपर कर दी, तो मेरे देखने के लिए क्या नजारा मेरे सामने आया थाl मेरा लंड जो पहल ही पेण्ट से बाहर था, उसकी गोल चिकने नितंबों को देखते हुए एक पल में अपने पूरे विकराल रूप में आ गयाl लंड की कठोरता नवीनीकृत हो गई थीl उसकी गांड की दरार को मैंने मह्सूस किया.आअह्ह्ह उसकी सिसकी निकल गयी ।


मैंने उसके नितम्बो के बीच की सफ़ेद सुंदर दरार को सहलाया तो वह कहराने लगी जैसे उसे बहुत राहत मिली हो। मैंने नितम्बो को दबाया क्या नरम और मजबूत नितम्ब थे मैंने दरार को थोडा खोला और उसके मांस को उजागर किया, तो मैं उसकी योनि के मोठे होंठों को देख सकता था, जो दो पंखो जैसे लग रहे थे , जो नीचे की तरफ नरम थेl उसकी सुदृढ़ पुष्ट जाँघे, सुन्दर घुटने उसके प्यारे पैर, लम्बी केले के पेड़ के तने जैसी लम्बी चिकनी टाँगे, सुन्दर लम्बे जूते सब मिला कर, बहुत सुन्दर बना रहा था, जिसे मैं लिख और वर्णन करता हूँ तो आज भी मेरा लंड उत्साहित हो कठोर हो रहा है ।


ये नज़ारा मेरे लंड की सूजन के विकराल होने का कारण बन गया l सबसे खूबसूरत और शानदार दृश्य था। मैं उसके नीचे झुका, और उसके नितम्बो को चूमा, और सब कुछ जहाँ तक मेरी जीभ तक पहुँच सकता थी उसको भी चूमा । यह सब मेरा था, मैं उठ कर खड़ा हुआ और प्रेम सिंघासन का कब्जा लेने के लिए तैयार हो । ऐसे में गोरी चिट्टी जेन को मुँह से गू गू आवाजे निकली वो गाये के रम्भाने जैसी थी।


अपना प्रेम औजार को पकड़ कर प्रेम की गुफा के द्वार के पास लाने ही वाला था की जेन अचानक से चीखी! बचाओ! जेन बेहद परेशान हो गई और डर गयी थी । उसकी गु गु की आवाज सुन कर एक सांड आकर्षित हो कर उसी और आ गया था। उसे एक बहुत बड़ा भयानक सांड अप्रत्याशित रूप से उसके सामने की तरफ दिखाई दिया,और उस सांड की ठंडी नम नाक जेन के माथे से अचानक छूने से मेरी प्यारी जेन उस समय बहुत ज्यादा डर गयी। वह पलटी और सीधी खड़ी हो गयी और मेरे साथ लिपट गयी और उसके कपड़े उसके बदन पर गिर गए, हमारी सारी व्यवस्था एक पल में उलट पलट हो गयी।


जेन चिल्लाते हुए बेहोश होने वाली थी, " दीपक, दीपक! बचाओ मुझे इस भयानक जानवर से बचाओ!" मैंने उस जानवर को देखा और बोला ऐ भागो यहाँ से। ये देख कर ये वो गाय नहीं है जिसकी पुकार सुन कर वो यहाँ आया था. वो आज्ञाकारी सेवक की तरह एक तरफ को चला गया। जेन मुझ से लिपटी हुई थी और बोली प्लीज दीपक यहाँ से चलो मुझे बहुत डर लग रहा है। मैंने जेन को भरोसा दिलाया के गेट बंद है और गेट की इस तरफ हम दोनों बिलकुल सुरक्षित हैं। और फिर खुले और जंगल में प्यार का यही तो रोमांच है। जो इस प्यार को ख़ास बनाता है।

मैं शान्ति के साथ उसे गेट के मध्य के पास ले गया, वहां पर लगा हुआ ताला दिखाया और गेट की ग्रिल और ताले को को हिला कर दिखाया के वो मजबूत हैं तो जेन आश्वस्त हो गयी के हम सुरक्षित हैं।


पर फिर भी वह बोली प्लीज यहाँ से चलो मुझे कुछ ठीक नहीं लग रहा है यहाँ। तो मैंने उसे कुछ प्यार भरे चुम्बन किये तो वह कुछ संयत हो गयी और चुम्बन में मेरा साथ देने लगी।


उसने अपनी ड्रेस थोड़ी ठीक की, मैंने भी अपनी पेण्ट थोड़ी ठीक की जिससे मैं चल पाऊ और फिर हमने दोनों ने चलना फिर शुरू किया, और कोई और अनुकूल जगह ढूंढने लगे । जल्द ही एक अनुकूल छायादार स्थान हमने ढूंढ लिया । मैंने कहा क्या यह जगह आपको ठीक लगती है प्रिय जेन तो उसने सहमति में सर हिला दिया। "आओ, प्रिय जेन , मेरे पास बैठ जाओ और मुझे यकीन है, प्रिय उस चौंकाने वाली रुकावट से उबरने और उसकी भरपाई के लिए ये अच्छी जगह है आप बहुत घबरा गयी थी।"


मैंने उसे अपने साथ लायी बोतल जिसमे शराब और ख़ास देसी दवा की कुछ बूंदे मिली हुई थी वह उसे पीने को दी। उसने कुछ घूँट पि तो मैंने भी उसके कुछ घूँट भर लिए।. वैसे दवा कुछ बूंदे मैंने जेन से छुपा कर उसके नाश्ते में भी मिला दी थी ताकि आज वह मेरे साथ खुल कर बेजिझक संसर्ग कर सके। कुछ देर मैं उसकी खूबसूरती की तारीफ करता रहा आपकी बड़ी बड़ी नीली मदमस्त आँखे गुलाबी होंठ सुनहरे रंग के लम्बे बाल, बड़े बड़े गोल गोल बूब्स. नरम चूतड़, पतली कमर, सपाट पेट, पतला छरहरा बदन और फिगर 36 26 36 था. कद 5 फुट 7 इंच था, मीठी कोयल जैसी आवाज़ मुझे मदहोश करती है। बहुत सुन्दर हो आप जब से मैं जवान हुआ हूँ और आप को देखा है तब से आप से बहुत प्यार करता हूँ और आप को पाना चाहता था।आज आप मेरी हो गयी हैं ।


आप बहुत सुन्दर , सबसे गोरी मस्त माल हो . आपको देखकर मैं तो दीवाना हो गया हूँl मैंने हल्की सी आवाज में ' आई लव यू जेन' आपको मालूम नहीं है. मेरे मन आपको देखते हे बेकाबू हो जाता है आपने मेरे दिल दिमाग पर काबू कर लिया हैl मैं उसको बोला आपके गुलाबी नरम गुलाब के पंखुरियों जैसे होठों का रस चूसना शुरू करे तो रूकने का नाम ही न ले।


जिसे सुन कर वह शर्माने लगी और उसका चहेरा लाल हो गया । मैंने पुछा क्या आपको अभी भी डर लग रहा है तो वह बोली नहीं । मैंने फिर उसको अपने से हल्का सा दूर किया हाथो से उसका चेहरा ऊपर किया और होंठो पर एक लम्बी किस की । उसकी आँखे बंद थी मैंने उसके होंठो को छोड कर चेहरा ऊपर किया तो उसने आँखे खोली और मुस्करायी। मैं फिर तो मैंने उसे चूमना शुरू किया। उसके ओंठ बेहद नरम और गीले थे लेकिन इस बार वो भी मेरा पूरा साथ दे रही थी।


फिर एक हाथ उसकी छाती पर ले गया और उसे सहलाते हुए उसके मुलायम बदन को महसूस कर रहा था और उसके गोल गोल बूब्स को सहला दबा रहा था। धीरे धीरे दवा ने भी अपना असर दिखाना शुरू कर दिया और वह भी मेरी छाती पर अपने हाथ फिराने लगी। मैंने उसकी छाती को कस कर दबाया तो वह मुझसे लिपट गयी थी और उसकी 36 साईज की चूचीयां मेरे सीने से दब गयी।


फिर मैंने उत्तेजना में उन्हें जकड़कर अपनी बाहों में मसल डाला. तो जेन ने कहा कि दीपक प्लीज धीरे करो बहुत दर्द होता है। फिर मैंने उनके गालों पर अपनी जीभ फैरनी चालू कर दी और फिर उसके होठों को चूमता हुआ, नाक पर अपनी जीभ से चाट लिया। अब जेन भी उत्तेजित हो चुकी थी और सिसकारियां भरती हुई मुझसे लिपटी जा रही थी। अब में उनके चेहरे के मीठे स्वाद को चूसते हुए उनकी गर्दन को चूमने, चाटने लगा था और मेरे ऐसा करते ही वो सिसकारी लेती हुई मुझसे लिपटी जा रही थी। मैं उसका पूरा चेहरा गाल नाक माथा आँखे धीरे धीरे सब चूमते चूमते चाट गया।


अब में जेन की की ड्रेस के ऊपर का हिस्सा खोल कर उसके बूब्स को दबाने लगा था ।. उसके मांसल बूब्स दबाने से वो सिहरने, सिकुड़ने और छटपटाने लगी थी, मैंने उसकी ड्रेस के टॉप को बिलकुल ढीलाकर दिया। उसने उसके नीचे लाल रंग की ब्रा पहन रखी थी । मैंने पहले उसकी ब्रा पर हाथ फिराया और उसके नरम बूब्स को महसूस किया। बहुत शानदार अहसास था!! फिर उसकी लाल ब्रा भी खोल दी तो उसने भी अपनी बाजुए ऊपर कर दी तो मैंने खींच कर ब्रा उतार दी। उफ़फ्फ़! भगवान् ने उसे क्या खूबसूरती से बनाया था! अब मेरा लंड तनकर पूरा खड़ा हो गया था और खुले हुए पोस्ट बॉक्स में से अपने आप ही उत्तेजित होकर बाहर आ गया जैसे वह भी उन शानदार बूब्स की पहली झलक देखना चाहता हो। उसके गुलाबी निपल भी उत्तेजित होकर कड़े हो गए थे।


मैंने महसूस किया उसके अनछुए बूब्स बहुत नरम मुलायम गोल और सुडोल थे। मैंने उसके निप्पल कड़क मह्सूस किये और उसकी छातियों को हाथो से पकड़ लिया और जोर से दबाने लगा। मेरे दबाने से दोनों गोरे बूब्स एक दम लाल हो गए।


मैंने उनके निप्पल्स को पकड़ लिया और मसलने लगा । दोनों बूब्स एक दम नरम मुलायम गोल सुडोल थे । जेन के पिंक गुलाबी निप्पल उत्तेजना से खड़े हो चुके थे । मेरे हाथों ने उनके स्तनों को अपनी हथेलियों में भरा और उन्हें किस करने लगा। मैंने स्तनों को सहलाना शुरू कर दिया। हम दोनों की साँसे तेज तेज चलने लगीl उसके कंधो और बाँहों पर किस करने लगा। मैंने उसके बूब्स को चूमा और निप्पल्स को चूसा।


उसका सुडोल, चिकना, गोरा बदन, मेरी बाहों में था। मैंने उसको अपने गले लगाया और पीठ पर हाथ फिराया उसकी पीठ बहुत चिकनी थी ।


मैंने अपनी शर्ट को खोल दिया और जेन को अपनी छाती से लगा लिया और अपनी बाँहों में जकड लिया। उसके नरम मुलायम बूब्स का मेरी छाती से दबने लगे। मैं अपने आनंद को बयां नहीं कर सकता। मैंने जेन का मुँह चूमा और लिप किस करि. फिर मैं उनके निप्पल के साथ खेल रहे था। मैं उसके स्तनों को देखे जा रहे था और उसका दिल जोर जोर से धड़क रहा था । मैंने एक निप्पल अपने मुह में रखा और उसे चूसने लगा। हे भगवान्! मैं बता नहीं सकता की उस पल क्या अनुभूति हुयी।


मैंने उसके दुसरे निप्पल को किस किया और उसे भी चूसना शुरू कर दिया। उसने अपना सर उत्तेजना और आनंद के मारे पीछे की और कर लिया। मैंने चूचियों को दांतो से काटा। जेन कराह उठी आह! आह! दीपक!! प्लीज धीरे करो, प्लीज काटो मत।


मै उनकी चुचियों को मसलने लगा, और वो मादक आवाजें निकालने लगी, आह, उह, आह! फिर मैंने उनके मोमो को चूसना शुरू कर दियाl उनके मोमो कड़क हो गए थेl मैंने चूचियों को दांतो से कुतरा तो जेन कराह रही थी, आह1 यह1 आह1


जेन बोली धीरे प्रिय धीरे प्यार से चूसो, खेलो सब तुम्हारा ही हैl उसके बूब्स अब सुर्ख लाल हो चुके थेl


मैं बार बार बाएँ और दायें निप्पल को चूसना जारी करे रहा, जब तक की उसके पूरे शरीर में एक आग सी न लग गयी। पहली बार कोई ऐसा उसके साथ सम्भोग कर रहा था। उसके शरीर में एक उफान सा आया। उसका शरीर अकड़ा और फिर कांपने लगा और वह निढाल सी हो गयी और उसकी चूत को छूआ मुझे योनी में एक बार फिर गीलापन महसूस हुआ।


कुछ देर वह मेरी बाहो में ऐसे ही लेटी रही और हम लिप किश करते रहे । मैं उसके होंठो को चूमने लगा और वह भी मेरा साथ देने लगी । फिर मैंने अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी और वह मेरी जीभ को चूसने लगी। फिर मैंने भी उसकी जीभ को चूसा । मैं जेन को बेकरारी से चूमने लगा। और चूमते चूमते हमारें मुंह खुले हुये थे, जिसके कारण हम दोनों की जीभ आपस में टकरा रही थी और हमारे मुंह में एक दूसरे का स्वाद घुल रहा था। कम से कम 5-10 मिनट तक उसका लिप्स किस लेता रहा ।


जब मुझे लगा जेन की उखड़ी हुई सांस संयत हो गयी है तो फिर मैं उसके बूब्स दबाने लगा, वो भी मेरा साथ देने लगी, मेरी जीभ जब उसकी जीभ से मिली तो उसका शरीर सिहरने लगा । वह बोली आज मार ही डालोगे क्या? मैंने कहा इसके अलावा मैं चाहता हूँ के हमारे प्रेमालाप में उस बैल के कारण आये व्यवधान से हुई निराशा की भरपाई करि जाए और इसके लिए आप अभी और उत्तेजना को प्राप्त करें। "


ये जान कर के कि अब वो समय लगभग आ गया, उसके प्यारे चेहरे पर गर्म लाल खून की धारें बहने लगती है। उसने अपनी आँखें नीचे झुका ली तो मैंने उसे अपनी तरफ खींचा और एक दुसरे को देखते हुए हम कंधे से कंधा मिलाकर गहरी घास पर लेटे रहे और एक दुसरे को एक प्रगाढ़ आलिंगन में चुमबन करने लगे।


" जेन! ओह! जेन!" मैंने हांफते हुए कहा, " मेरी प्यारी जेन मुझे अपनी जीभ की नोक दो ।" जैसे उसे पहले से ही कामना के अनुरूप उपजने वाली रमणीय प्रत्याशा हो की मैं ऐसा ही कुछ करूंगा या मांगूंगा उसने मेरी कामना की पूर्ती करते हुए बिना किसी हिचकिचाहट के, बिना किसी झिझक के, अपनी मखमली जीभ एक गहरी आह के साथ मेरे मुँह में डाल दी। मेरा एक हाथ उसके सिर के नीचे था, और दूसरे के साथ मैंने धीरे से उसके स्कार्फ़ को हटा दिया, और एक तरफ अपने शर्ट को उतार कर फेंक दिया, और इस दौरान उसकी जीभ को चूसता और चूमता रहा।


आगे क्या हुआ ..

[b]अगले भाग में [b]जेन के साथ मुखमैथुन और सेक्स की [/b]कहानी जारी रहेगी- अंतरंग हमसफ़र भाग 12[/b]
Reply
03-19-2021, 04:56 AM,
#15
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
Update 14

जेन के साथ सेक्स.- अंतरंग हमसफ़र भाग 14

"मेरे अंतरंग जीवन की हमसफ़र -13 " में पढ़ा

" जेन! ओह! जेन!" मैंने हांफते हुए कहा, " मेरी प्यारी जेन मुझे अपनी जीभ की नोक दो ।" जैसे उसे पहले से ही कामना के अनुरूप उपजने वाली रमणीय प्रत्याशा हो की मैं ऐसा ही कुछ करूंगा या मांगूंगाl उसने मेरी कामना की पूर्ती करते हुए बिना किसी हिचकिचाहट के, बिना किसी झिझक के, अपनी मखमली जीभ एक गहरी आह के साथ, मेरे मुँह में डाल दी । मेरा एक हाथ उसके सिर के नीचे था, और दूसरे के साथ मैंने धीरे से उसके स्कार्फ़ को हटा दिया, और एक तरफ अपने शर्ट को उतार कर फेंक दियाl इस दौरान उसकी जीभ को चूसता और चूमता रहा । "


मैं दीपक आपने मेरी कहानिया "झट शादी पट सुहागरात-1-4" में पढ़ा कैसे मेरी सहयोगी प्रीती दुल्हन बन कर सुहागरात मनाने को तैयार हो गयी और उसके बाद मेरी और मेरे घर की देखभाल करने वाली रोजी और रूबी मिली और मेरी पहली चुदाई के बारे में पूछने लगी तो मैंने उसे बताया किस तरह मैं रोज़ी और रूबी से मिला और कैसे मेरी और रोजी की पहली चुदाई हुई । उसके बाद कैसे मैंने रूबी को चोदा और फिर हमारे गाँव के प्रवास के आखिरी दिन जंगल में हमने ग्रुप सेक्स और प्रेमिकाओ की अदला बदली का कार्यक्रम बनाया और रोजी ने हमे अपनी सहेली टीना से मिलवाया और टीना की पहली चुदाई कैसे हुई । फिर छोटे योनि के छेद वाली मोना को मैंने चोदा । रात में एकबार फिर सबका एक साथ ग्रुप सेक्स हुआ और रोजी मेरे साथ शहर आ गयी । उसके बाद मेरी बुआ और उनकी तीन बेटियों लंदन से दिल्ली हमारे घर आये और मैं और मेरी बुआ की सबसे बड़ी बेटी जेन के साथ शाम के समय मैदान में घूमने गया । वहां उससे प्रेम निवेदन किया और रात में रोजी और रूबी के साथ हमारा पहला थ्रीसम हुआ अगले दिन सुबह अपने पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार मैं और जेन नाश्ते के बाद घूमने निकले वहां हमने संसर्ग शुरू किया ही था की एक बैल वहां आ गया जिससे जेन डर गयी और हमने जगह बदल कर दुबारा संसर्ग शुरू करने की कगार पर थे ( अंतरंग हमसफ़र -1 -13) ।

अब आगे

तो मैं बोला प्रीती फिर मैंने जेन के गले पर बेतहाशा किस किया और काटने लगाl

वो बोली प्लीज काटो मत निशाँ पड़ जाएंगे l कोई पूछेगा तो क्या जवाब दूँगी?

मैंने फिर उसकी कंधो पर किस किया फिर मैं उसके गालो पर टूट पड़ा। उसके गाल बहुत नरम मुलायम सॉफ्ट और स्वाद में मीठे थे । वह कराहने लगी आअह्ह्ह्ह! आयीीी! ऊह्ह्हह्ह! मर गयी, मार डाला, प्लीज प्यार से करो, दर्द होता है ,और उसकी कराहट से मेरे जोश और बढ़ गया।.

मैं अपने हाथ उसके पीछे ले गया और उसकी मुलायम नरम पीठ को पहले सहलाया फिर कस कर पकड़ लिया। कुछ देर बाद मैंने उसे थोड़ा ऊपर किया और फिर मैंने मैं उसके दाए निप्पल को चूसा और काटाl फिर मैंने बाए निप्पल को चूसा और काटा, और पहली को हाथ से दबोच रहा था! वो बहुत फूल चुकी थी।और बोला जेन तू बहुत मीठी हैl मैं तुझे खा जाऊँगाl

जेन बोली अगर खा जाओगे तो प्यार किसे करोगेl मेरे दोनों चुची को एक साथ चूसने से वह कराह रही थी, आआहह, ओमम्म्मममम, चाटो ना जोर से, सस्स्सस्स हहा और मचलने लगीl जेन अपनी गांड को इधर उधर घुमाने लगी। अब वो सिसकारियाँ मारने लग गई थी।

अब मैंने फैसला कर लिया. अब मुझे उसे पूर्ण नग्न देखना है और मैंने उसे नग्न करने के लिए उसकी स्कर्ट खोलने का और उसे उतारने का उपक्रम शुरू करने लगा, तो उसने बहुत हल्का सा प्रतिरोध किया । तो मैंने उसे प्यार से उसके स्तन चूमते हुए बोला क्या तुम्हे अपने बाकी जिस्म को छूने , सहलाने और चूमने का जादू अनुभव नहीं करना है तो उसने प्रतिरोध छोड़ते हुए अपना जिस्म ढीला कर मेरे हवाले कर दियाl

जेन बोली "जैसा आप ठीक समझो करो, मेरे प्रिय प्रेमी! अब सब कुछ तुम्हारा ही है ।"

मैंने खींच कर उसकी स्कर्ट को उतार डाला और उसकी पैंटी को खींचा तो उसने चूतड़ उठा कर पेंटी उतारने में मेरा साथ दिया और मैंने उसे पूरी नंगी कर दिया।

मैंने उनको एक तरफ रख दियाl उसकी योनि पर कोई बाल नहीं था । मैंने हाथ फिराया तो बोली मैंने आज ही साफ़ किये हैंl जैसे आप किश करते हैं, उससे मुझे लगा आपको यहाँ बाल बिलकुल पसंद नहीं होंगे।

मैंने जेन के एक हाथ को अपने तैयार कठोर लंड पर रखा, जो उत्तेजना के कारण फटने की स्थिति में थाl मैंने उसकी जीभ को एक पल के लिए छोड़ दिया और कहा "जेन , हमारे प्यार के हथियार को अपने हाथ में ले लो।"

उसने घबराते हुए उसे पकड़ लिया और वह धीरे-धीरे मेरे कान में फुसफुसाते हुए बड़बड़ा रही थी: "ओह, दीपक , अभी भी मुझे बहुत डर लग रहा है, और फिर भी, आप मुझे सबसे प्यारे लगते हो । हालाँकि मैंने पढ़ा और सुना है ये ही वह यह निषिद्ध फल है जिसके कारण आदम और ईव को जन्नत से निकाला गया था । मुझे लगता है, अगर इसमें मैं मर भी जाऊं तो भी, मुझे प्यार की इस सबसे सुस्वादु मिठाइ का स्वाद लेना चाहिए। "

उसकी आवाज़ बहुत धीमी थी फिर उसने मेरे लंड को दबाया और मेरे लंड पर ऊपर नीचे हाथ फेरा। उसके द्वारा लंड को प्यार से सहलाने से लंड और व्यग्र हो गया और नसे कुछ ज्यादा फूल गयी।

उधर मेरा हाथ भी नीचे अपना रास्ता खोजने में व्यस्त था वहीँ मैंने फिर से उसका मुँह चूमने लग गया, और उसकी जीभ को तब तक चूसा, जब तक कि मैं उसकी बढ़ी हुई उत्तेजना के अतिरेक के कारण उसके पुरे बदन का कंपन महसूस नहीं किया और मेरा हाथ, जो आनंद की गुफा के द्वार पर पहुँच गया था, उसके गर्म रज से भीग गया।

चुकी रोजी और रूबी के साथ थ्रीसम में मुझे मुखमैथुन के जादू के बारे में पता चल चूका था तो मैं जेन को भी इस अमृत से परिचित करवाना चाहता थाl

" मेरी प्यारी जेन! अब मैं तुम्हें वहाँ चुंबन करूंगा, और तुम्हारे प्रेम का अमृत का स्वाद चखना चाहूंगा ।" मैंने कहा और चुम्बन तोड़ कर होंठ अलग करते हुए अपनी स्थिति को उलटते हुए अपना चेहरा उसकी जाँघों के बीच घुसा दिया, उसने या उसकी जांघो ने कोई प्रतिरोध नहीं किया। उसकी योनि पर और उसके आसपास कोई बाल नहीं थाl

मैंने उसके तंग योनि के होंठों को आनंद के साथ चूसा, फिर मेरी जीभ ने अपनी संवेदनशील भगशेफ को छेड़ने लगी , जिसने उसे चुदने की पागल इच्छा के उन्माद में डाल दिया, उसने आनंद लेते हुए अपने टांगो को मेरे सिर के ऊपर घुमायाl मेरे सिर को अपनी शानदार चिकनी और मजबूत जांघों के बीच दबा दिया।

मैंने अपनी ऊँगली उसकी चूत की दरार में डाली तो वह गीली हो गयीl मैंने आसानी से अपनी ऊँगली को उसके छेद में डाल दियाl मेरी जीभ उसके कड़े छोटे से भगशेफ को टटोलने, छेड़ने में व्यस्त थीl मेरी ये हरकते उसे इतनी उग्र अवस्था में ले गयी कि उसने मेरा लंड पकड़ लिया, और अपने मुँह को मेरे लंड को पर ले आयी और उसने लंड मुंड पर एक मीठी किस करिl

मैं भी उसे ऐसा करने का मौका देने के लिए उसके ऊपर लेटा हुआ थाl उसने अपनी जीभ को लंड के सिर पर फिराया और फिर उसने अपने ओंठ खोलते हुए लंडमुंड को मुँह के अंदर ले लिया उसने ख़ास ख़याल रखा के लंड को उसके दांत न लगें। दोनों कामोत्तेजक आनंद में कराह रहे थे । फिर अत्यधिक उत्तेजना से उसके जलाशय में बाढ़ में आ गयी, जिसे मैं चूस गया और उसने भी लंड से हुए शुक्राणु विस्फोट की हर बूंद को चाट गयी।

हम दोनों अपनी भावनाओं की अधिकता से निढाल होकर लगभग बेहोश हो गएl थके हुए हौं दोनों तब तक वैसे ही लेटे रहेl जब तक मुझे लगा कि उसके प्यारे होंठ फिर से मेरे प्यार के इंजन को दबाने और चूसने लगे हैं। इसका प्रभाव जादुई था और मेरा लंड हमेशा की तरह कठोर हो गया था।

"अब प्रिय, क्या तुम प्यार के असली स्ट्रोक के लिए तैयार हो ।" मैंने कहा। मैंने अपनी जगह को बदला और उसकी खूबसूरत स्पंदन करती हुई जांघों को अलग किया, ताकि मैं उनके बीच अपने घुटने टेक सकूं। मैंने अपने घुटनो को उसकी जांघो के बीच में रखा और उसकी और देखा ।

वह मेरे सामने एक प्रसन्नचित्त अवस्था में लेटी हुई थीl उसका गोरा खूबसूरत चेहरा शर्म के मारे लाल हो गया था और काली पलकें बंद, उसके होंठ थोड़े खुले हुए, और उसके बड़े बड़े उभरे हुए गोल सुडोल स्तन और उन पर ललचाते हुए उत्तेजना से कठोर हो चुके निप्पल, जो साँसों के साथ ऊपर नीचे हो कर मुझे ललचा रहे थे यह दृश्य बेहद उत्तेजक थाl मैं वासना से पागल हो गया था, और अब अपने आप को इसके बाद योनि प्रवेश से रोक नहीं सकता था।

मुझे मन ही मन अफसोस हो रहा था की ये सुंदर युवती जो मुझे पूरी तरह समर्पित है, उसका कौमार्य भंग करते समय मैं उसे असहनीय दर्द देने जा रहा था! और ये भी अफसोस था की मेरे पास कोई ऐसा उपाय नहीं था जिससे मैं उसे इस दर्द से बचा सकू। यह वह दर्द भरी राह थी जिस से गुजर कर ही हम दोनों उस अलौकिक आनंद को अनुभव कर सकते थे। उसके कौमार्य के लिए! मैं अपने लंड के सर को उसकी योनि के होंठों के बीच में लगाया।

जैसे ही मेरे लंड ने उसकी योनि को स्पर्श किया, मुझे उसी समय आनंद की एक सिहरन उसके बदन से गुजरती हुई महसूस हुई, उसकी आँखें खुलीं, और वह एक नरम, प्यार भरी मुस्कान के साथ, फुसफुसायी, "मुझे पता है कि मुझे अब चोट लगेगी और दर्द होगा, लेकिन दीपक, मेरे प्रिय दीपक, आप दयालु और दृढ़ दोनों रहें। मुझे पूरे आनंद की खोज में इस से गुजरना ही होगा, शायद ये दर्द मुझे मार ही डालेl तब भी मैं इस दर्द से गुजरना चाहूंगीl "

उसने मेरी गर्दन के चारों ओर अपनी बाहों को फेंकते हुए, वो मेरे होंठों को अपने पास ले आयीl मुझे किस किया और फिर उसने अपनी जीभ को मेरे मुंह में डालते हुए बेहद प्यार के साथ चूमने चूसने लगी, और मेरे लंड से मिलने के लिए अपने चूतड़ ऊपर उठा दिए और बोली मुझ में समा जाओ दीपक। .

मैंने अपना एक हाथ उसके नितंबों के नीचे रखा, जबकि दूसरे से, मैंने अपना लंड सीधे निशान पर रखा; फिर जोर से धक्का दिया, लंडमुंड लगभग एक इंच तक घुस गयाl मैंने फिर तब तक जोर लगता रहा जब तक कि यह कुदरती विरोध करने वाले अवरोधक हाइमन तक नहीं पहुंच गया। जब लंड ह्यमन से टकराया तो उसे दर्द की शुरुआत हो गयी की, लेकिन तब भी उसकी आँखों ने मुझे पूरे उत्साह से देखा।

वो दर्द से कराहते हुए बोली "ओह्ह, आह , मेरे दर्द की परवाह मत करो, आप अपना काम पूरा करोl "

"अपने पैरों को मेरी पीठ पर ले जाओ , प्रिय," मैं सांस लेने के लिए रुकाl मैंने एक पल के लिए उसकी जीभ को छोड़ कर बोला और फिर दुबारा दुगने जोश के साथ उसे चूमने लगा। उसने सबसे ज्यादा होने वाले दर्द को सहन करने की दृढ़ इच्छाशक्ति के साथ अपनी टांगो से मेरी कमर और नितम्बो को लपेट लिया। फिर जब मैंने एक निर्दयी धक्का दिया, तब उसके नितम्ब भी इस तरह ऊपर को उठ गए और उसकी टांगो ने मेरे नितम्बो को नीचे की और इस तरह दबा दिया, जैसे वो मुझसे मिलने के लिए तड़प रही हो और काम पूरा हो गया था।

मेरे लंड महाराज ने हमारे आनंद भोग के मार्ग की सभी बाधाओं को तोड़ दिया था। उसने अपने दर्द को वश में करते हुई दर्द से कराही, और मैं अपने सबसे बड़े आकर्षण को उसके कब्जे में कठोर और फूलता हुआ महसूस कर रहा था। .

" जेन डार्लिंग! मेरी जान! तुम मुझसे बेहद प्यार करती हो! मेरी बहादुर जेन, तुम कितनी अच्छी तरह से इस असहनीय दर्द को झेल गयी। चलो हम एक-दो पल के लिए लेटे और फिर प्यार की खुशियों लूटेंगे।" मैंने कहा, और उसके चेहरे, माथे, आंख, मुंह और ओंठो को जीत के आनंद में चूमा।

उसके बाद मैं उसकी योनि के तंग म्यान को अपने लंड पर सिकुड़ता महसूस कर रहा था । मेरे लंड के आवेग के लिए यह चुनौती बहुत ज्यादा थी। मैंने एक हल्का सा झटका दिया तो मैं उसके खूबसूरत चेहरे पर दर्द की ऐंठन से देख सकता था, कि यह अभी भी उसके लिए दर्दनाक थाl

लेकिन, अपनी ललक को रोकते हुए, मैंने बहुत धीमे से काम किया, और धीरे धीरे लंड को हिलाना शुरू कियाl

हालाँकि मेरी वासना और उत्तेजना इतनी ज्यादा थी कि मैं अपने चरमोत्कर्ष को रोक नहीं सका और उनकी योनि के अंदर मैंने अपने वीर्य से भर दियाl मेरे लंड के घर्षण के कारण वह भी मेरे साथ ही कांपती हुई झड़ गयी और मेरे लंड को उसने अपने जलाशय के रस से भिगो दिया और मैं आंनद और प्यार की सुस्ती में उसकी छाती पर गिर गया।

यह केवल कुछ ही क्षणों के लिए था, मैं उसे अपने से नीचे कांपती हुई महसूस कर सकता था, और उसकी म्यान अब अच्छी तरह से चिकनी हो गयी थी, और मेरा लंड भी अभी तक कठोर ही थाl हमने परमानंद के लिए एक रमणीय संसर्ग की शुरुआत की और मैंने धीरे धीरे धक्के लगाने शुरू किये। उसका सारा दर्द गायब हो गया था, मेरे वीर्य के बहाव से उसकी योनि के घायल हुए भाग अब केवल प्रेम के रमणीय घर्षण का आंनद ले रहे थेl

मेरा प्रसन्नचित्त लंड उसमें घुसा, फिर मेरा लंड मेरे पूरे मर्दाना जोर से अंदर-बाहर हो रहा था और वो बार बार झड़ रही थीl इस तरह मैं भी उसके अंदर तीन चार बार झड़ गयाl जब तक हमारी काम प्रचंडता काफी हद तक कम नहीं हो गयी।

आगे क्या हुआ? ये कहानी जारी रहेगीl.. अंतरंग हमसफ़र भाग 15

Reply
06-05-2022, 07:59 PM,
#16
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
अंतरंग हमसफ़र भाग 15

अंतरंग हमसफ़र

द्वितीय अध्याय

परिवार से मेलजोल

भाग - 8

जेन के साथ सेक्स





फिर इस तरह मैंने जेन को उस दिन हमारे पहले मिलन पर तीन चार बार नॉनस्टॉप चोदा और जेन तो पता नहीं कितनी बार झड़ीl

उस दोपहर उसके अंदर आखिरी बार जब मैं झडा तो उसके कुछ देर बाद मेरा लंड आधा मुरझाया हुआ आधा बाहर आ गया, जिस पर उसकी नज़र पड़ी तो उसने मुझ से शांत होने की अपील की और साथ ही ये भी बोली की कृपया अत्यधिक आनंद से खुद को घायल मत कीजियेl अब बस कीजिये। तो मैं रुक गया ।

फिर उसने आह भरते हुए बोला "ओह दीपक! क्या इस तरह के रमणीय आनंद से किसी का खुद को चोट पहुंचाना भी संभव हो सकता है?" उसने आहें भरींl

उसने अब तक तो मेरे लंबे कठोर लंड को ही देखा था पर इस बार उसने मुझे अपना मुरझाया हुआ लंगड़ा उपकरण उसकी योनि से निकालते हुए देखा तो वह कुछ चिंता करते हुए बोली थी अब बस कीजिये ।

वह मंद मंद मुस्कुराई, जैसा कि उसने शरमाते हुए कहा था, "मेरी अशिष्टता के लिए मुझे क्षमा कीजिये, प्रिय दीपक, लेकिन मुझे डर है कि हम दोनों में से तुम ही सबसे ज्यादा घायल हो। देखिये आपका औज़ार खून से पूरा सना हुआ है । "

" हे थोड़ी अनजान, अनाड़ी सुंदरी ," उसे हर्षातिरेक से चुंबन करते हुए मैंने कहा " ये तुम्हारा खुद के कुंवारेपन का रक्त है। मुझे, इसे पोंछने दो, प्रिय जेन," फिर मैंने अपना रुमाल ले कर उसकी सूजी गई योनि के ऊपर और अंदर पोंछने के बाद मैंने अपना लंड भी उससे पोंछ कर साफ किया और बाद में उससे कहा। "यह सबसे प्यारी जेन , इसे मैं आपके कुंवारे और पहले प्यार के सबूत के रूप मे अपने खजाने में रखूंगा, आज आपने मेरे आगे आत्मसमर्पण करते हुए मुझे अपना सब कुछ सौंप दिया हैl" उसके लहू से सना हुआ रुमाल उसको प्रदर्शित किया और फिर उसे अपनी जेब में छुपा लिया ।

फिर मैंने उससे पुछा उसे कैसा लगा? तो वह बोली "बस शुरू में जब पहली बार आपने अंदर डाला था तब कुछ देर दर्द हुआ था। उसके बाद तो बहुत मजा आया। उससे पहले भी जब आपने चूमा चाटा तो सब बहुत अच्छा लगा। आपको कैसा लगा?"

तो मैंने कहा मुझे तो हर पल बहुत मजा आया और आपके साथ जब भी संभव हो सके तब करना चाहूंगाl आपको जो दर्द होना था वह हो गया अब कभी वैसा दर्द नहीं होगा। नाही अब फिर कभी खून निकलेगा। अब तो बस मजे लूटिये प्यार के खेल के। मैंने जेन को अपने कमरे में आने के लिए आमंत्रित किया।

अब हम अपने नरम हरी घास के बिस्तर से उठे, और एक-दूसरे की सहायता करके हमारे प्रेम संबंधों के सभी निशान वहां से हटा दिए। एक दुसरे को कपडे पहनायेl वैसे तो कपडे उतारने में मजा आता है पर कपडे पहनाने के भी आनंद आया। फिर हम वापिस भवन की और चले और रास्ते में मैंने प्रिय जेन को प्यार की सभी कलाओं और प्रथाओं के बारे में बताया।

"क्या आपको लगता है," मैंने टिप्पणी की, "आपकी बहनों या बॉब और टॉम को इस बात का कोई अंदाजा है कि प्यार की खुशियाँ क्या होती हैं?" इससे पहले के जेन कोई जवाब देती मुझे लगा के कोई लड़की मुझे पुकार रही थी । दीपक! कहाँ है आप? इससे पहले हम कुछ समझते हमें सामने अलका आती हुई दिखाई दीl उसके हाथ में मोबाइल फ़ोन था।

वो मेरे पास आयी और मुस्कुराते हुए बोली दीपक आप कहाँ थे? तो मैंने कहा मैं और जेन बस यही घूम रहे थे। तो वह बोली मेरी माँ आपसे बात करना चाहती है। तो मैंने कहा ठीक है आप चलो मैं जेन को उनके निवास पर छोड़ कर आता हूँ। तो मैंने जेन और अलका दोनों मौसेरी बहनो का आपस में परिचय करवाया।

तो उसके बाद अलका बोली नहीं माँ घर पर नहीं है, वो इनकी माँ ( मौसी) और मौसा के साथ गयी हैं और फिर उसने फ़ोन मिला कर मुझे पकड़ा दिया। तो मैंने बुआ को प्रणाम किया तो बुआ ने कहा वह, बहन और जीजा के साथ किसी काम से किसी परिचित के यहाँ गए थे और शाम तक वापिस आने का कार्यक्रम थाl पर अब वो अगले दिन वापिस आएंगे। ऐसे में अलका अकेली है, इसलिए वो चाहती थी की आज मैं अलका के पास रात को सो जाऊं, क्योंकि अलका कभी भी रात को अकेली नहीं रही है। तो मैंने कहा क्यों न अलका मेरे भवन पर मेरे पास आ कर रात में रहे, वहां और लोग भी हैं तो उसके लिए बुआ मान गयी। तो मैंने अलका को दोपहर के भोजन पर आमंत्रित किया जिसे उसने सहर्ष स्वीकार कर लिया।

इतने में जेन की माँ और पिताजी का भी फ़ोन आ गया और उन्होंने भी अपने वापसी के कार्यक्रम के एक दिन टल जाने की बात बताई और खाने पर इंतज़ार न करने के लिए कह दिया ।

इस पर अलका मुस्कुराती हुई वापिस चली गयी और जेन ने भी अपना कमरे में वापिस जाने की बात कही तो उसको उसके कमरे में छोड़ कर मैं अपना कमरे में आ गया । तो रोजी मेरे पास आ कर मुझ से पूछने लगी आज आप जेन के साथ काफी लम्बे चक्कर पर चले गए नाश्ते के बाद तो मैं कुछ नहीं बोला और अपनी पेण्ट बदलने लगा तो उसमे से जेन के कौमार्य के लहू, वीर्य और जेन के चूत रस से सना रूमाल बाहर गिर गया ।

रोजी उसे उठा कर सूंघते हुए बोली "ठीक है फिर तो आप शायद जल्दी वापिस आ गए" और मुझे बधाई देती हुई बोली .. कैसी लगी जेन आपको?

मैंने कहा "वह एक शानदार युवती हैl" ये मेरे द्वारा पटायी गयी पहली युवती के साथ मेरे संसर्ग की निशानी है। इसे संभाल कर खजाने में रख दो और वहां जगह बना लो ऐसे बहुत से रुमाल इकट्ठे करने का मैंने निश्चय कर लिया है।

मैंने कहा " रोजी, मैंने अब तक तुम्हारे , रूबी, मोना और टीना के साथ कई बार संसर्ग किया है और आज जेन के साथ भी संसर्ग किया हैl हरेक के साथ मैंने भरपूर मजे लिए हैं और आगे भी लेता ही रहूंगा, पर अपने अनुभव से कह सकता हूँ, की एक कुंवारी के साथ पहला संसर्ग करने के आनंद का कोई मुक़ाबला नहीं है।

मैं चाहता हूँ के इस यादगार को ख़ास बनाया जाए और लड़की को भी हमारे इस मिलन की प्यारी स्मृति रहे, इस के लिए उसे कुछ तोहफा दूँl तुम ऐसा करो हमारे परिचित सुनार के पास जा कर कुछ अँगूठिया बनवा लो जिन्हे मैं अपनी प्रेमिकाओ को पहले मिलन की निशानी के तौर पर तौह्फे के तौर पर देना चाहूंगाlमैं उन्हें फ़ोन कर दूंगा और मैंने उसे स्वस्तिक का निशाँ बना कर दे दिया और कहा हर अंगूठी पर ये निशाँ बनवा देनाl ये मेरी याद उन्हें दिलवाएगाl

मैंने कहा " रोजी, आज मैं बहुत खुश हूँ और अगर प्रभु की कृपा ऐसे ही बनी रही. तो आज रात को एक नयी कुंवारी से भी पहला मिलन हो जाएगाl "

तो रोजी बोली कौन है वह सौभाग्यशाली कन्या तो मैंने कहा शाम को आएगी तुम खुद ही देख लेना . तो रोजी मुस्कुराते हुए बोली अलका आएगी ऐसा क्यों नहीं कहते आपl तो मैं चौंका और बोलै तुम्हे कैसे मालूम अलका आएगीl हे प्राणप्रिया! अन्तर्यामी सुंदरी ये राज बताओl

वह मुस्कराते हुए बोलीl " मेरे भोले प्रेमी! सुबह के नाश्ते के कुछ देर बाद अलका तुम्हे ढूंढती हुई आयी थी और मुझे उसने सब बताया था, तो मैंने ही उसे तुम्हे ढूंढ़ने के लिए पीछे मैदान और जंगल की तरफ भेजा था।"

तो मुझे संशय हुआ जब अलका हमें ढूंढते हुए इतनी जल्दी आ गयी थी तो हमे इतनी देर बाद जब हमारा संसर्ग ख़तम हो गया ,तब क्यों मिली पर अभी मेरे पास इसका कोई उत्तर नहीं था।

दोपहर के खाने के समय मैंने अपने फूफेरे भाइयो बॉब और टॉम और फूफेरी बहनो जेन , लूसी और सिंडी से. मैंने कहा जेन आप पहले ही अलका से आज नाश्ते के बाद जब हम सैर करके वापिस आ रहे थे तब अलका से मिल ही चुकी हैं और उसके बाद सबका परिचय अलका के साथ करवाया। अलका जाकर जेन जो मेरे साथ बैठी थी उसके पास दूसरी तरफ बैठ गयी । फिर मैंने उन सब को ये भी बताया की आज रात बुआ और फूफा वापिस नहीं लौटने वाले हैं।. तो ये सुन कर बॉब और टॉम अति प्रसन्न हो गए। फिर मैंने उन्हें ये भी बताया की आज रात को अलका भी यहीं हम सब के साथ रुकने वाली है. तो अलका बोली उसे घर में कुछ काम है जिन्हे ख़त्म करके वह रात के खाने के समय यहाँ आ जायेगी ।

खाना ख़त्म करके हम लोग कुछ इधर उधर की बाते करते रहे अलका वापिस चली गयी और बॉब मेरे पास से गुजरा और फुसफुसाता हुआ बोला जेन को संभाल लो और आँखो से इशारा करते हुए वापिस पुस्तक पढ़ने अपने कमरे में चला गया। लूसी और सिंडी अपने कमरे में जाकर टीवी से चिपक गयी कोई वेब सीरीज देख रही थी। जिसके काफी हिस्से थे और उसे ख़त्म किये बिना छोड़ने वाली नहीं थी। और टॉम भी अंगड़ाई लेते हुए बॉब के कमरे में चला गया ।

वहां मैं और जेन दोनों रह गए तो मैंने कहा जेन चलिए बाहर का एक चक्कर लगा कर आते हैं तो उसने कोई जवाब नहीं दिया । शायद मुझ से किसी बात के लिए नाराज हो गयी थी। लेकिन मैं चाहता था वह यहाँ से बाहर चले ताकि बॉब और टॉम अपनी प्रेमिकाओ से मिल सके। मेरे बार बार अनुनय करने पर नाराजगी भरे स्वर में जेन बोली " आप अपनी अलका के पास जाईये मुझ से अब आपको क्या मिलेगा? "

मैंने वहीँ जेन का हाथ पकड़ लिया और बोला आप ही बताइये मैं क्या करता, अगर बड़े कह रहे हैं तो मैं उसे कैसे टालता?

अभी भी कुछ नहीं बिगड़ा है आप कुछ सुझाव दीजिये। जेन बोली मैं आज रात आपके साथ रहना चाहती हूँ ऐसा मौका हमे दुबारा पता नहीं कब मिलेगा?

चाहता तो मैं भी यही हूँ की आपका साथ मुझे फिर मिले। तो मैंने कहा ये तो अच्छा है आप अलका के साथ देने के बहाने मेरे भवन में आ जाइये। फिर तो सारी रात हमारी है आज सारी रात आपको प्यार करूँगा। आप अलका से दोस्ती बढ़ा लीजिये ताकि वही ये प्रस्ताव कर दे। (मुझे लगा अभी अलका के साथ संसर्ग करने का समय नहीं आया है।वैसे भी अलका तो यही हैं कभी भी दुबारा मौका मिल सकता है।)

मैंने कहा अब आप खुद देख लीजिये आप कैसे करेंगी। चलिए थोड़ा बाहर घूम आते हैं और अगर आप थकी हुई हैं तो मेरा कक्ष देखने चलिए, वहां आपकी सारी नाराजगी दूर कर दूंगा और उसे अपने पास खींच कर उसे एक लिप किश कर दिया। तो वह बोली यहाँ ठीक नहीं रहेगा। मैं आपके साथ चलती हूँ और मैं उसका हाथ पकड़ कर अपने कमरे में ले गया।

कमरे में घुसते ही हमारे ओंठ जुड़ गए । मैंने उसकी ड्रेस ढीली करि और उसके बूब्स पकड़ लिए . तो उसने भी मेरा सदा कठोर रहने वाला लंड पकड़ लिया । फिर मैने उसे घुमा कर घोड़ी बना दिया और बोलै उस बैल के अचानक आ जाने से जो अधूरा रह गया था उसे अभी पूरा कर देता हूँ । फिर अपनी पेण्ट से लिंग को बाहर निकाला उसकी ड्रेस उठा कर ऊपर करि और पैंटी को साइड में कर के चूत को सहलाया । मैंने देखा आगे क्या होने वाला है इसकी अपेक्षा में उसकी योनि थोड़ी सी गीली और तैयार हो गयी थी।.

मैंने एक झटके से उस म्यान में अपनी तलवार डाल दी । जेन के मुँह से हलकी सी चीख निकली जिसे सुन रोजी भागी हुई आयी पर हमे इस अवस्था में देख कर वापिस चली गयी। फिर मैंने तलवार की धार को तेज करने के इरादे से तलवार को म्यान में आगे पीछे करना शुरू कर दिया, मानो उस घिस रहा हूँ । मैं उसके ऊपर झुक गया और उसके स्तन पकड़ कर उन्हें दबाने लगा मैंने उसके मोमे उसकी ड्रेस ढीली कर बाहर निकाल लिए । .

फिर वो मेरे लंड पर अपनी नितम्बो को ज़ोर से आगे पीछे करने लगी और ज़ोर से मौन करने लगी। किया मुझे लगा पीछे से लंड ज्यादा अन्दर तक गया और पहले से ज्यादा मजा आया. । जेन भी मस्ती में गांड आगे पीछे कर मेरा साथ देने लगी और हम दोनों रिदम में चुदाई करने लगे और फिर में उसे लगातार धक्के देकर चोदता रहा।

मैं पीछे से उनके मोमो पकड़ कर दबाता रहा और चूचिया मसलता रहा मैं जेन अपना मुँह पीछे घुमा लेती थी और में उसे लिप किस करता रहा । इस बीच मेरा लण्ड फस फस कर अंदर बाहर जाता रहा। उसकी चूत का छेद बहुत टाइट था । करीब 25 मिनट तक लगातार उसको उस पोज़िशन में चोदा। हमारी हालत बुरी हो गयी थी । हम दोनों तेज तेज सांस ले रहे थे फिर हम दोनों एक साथ झड़ गए । मैंने जेन की चूत अपने वीर्य से भर दी मैं जेन के ऊपर ही लेट कर उसकी जीभ चूसने लगा ।..

कुछ देर हम ऐसे ही लेटे रहे मैंने उसके कपडे उतारने चाहे तो उसने मना कर दिया बोली रात को सब देख लेना। अभी कही कोई आ न जाए ख़ास तौर पर तुम्हारी चहेती अलका । मैंने देखा था वह खाने की टेबल पर तुम्हे कैसे घूर रही थी। लड़कियों में नज़रो को पहचाने की एक जनम ज़ात काबलियत तो हमेशा होती है ।

मैंने कहा छोड़ो अलका को, आप वो बाताओ जो मैंने आपसे पुछा था वह बोली क्या पुछा था आपने? तो मैं बोला "क्या आपको लगता है," "आपकी बहनों या बॉब और टॉम को इस बात का कोई अंदाजा है कि प्यार की खुशियाँ क्या होती हैं?"


कहानी जारी रहेगी

दीपक कुमार
Reply
06-24-2022, 08:50 AM,
#17
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
अंतरंग हमसफ़र भाग 16

मेरे अंतरंग हमसफ़र

द्वितीय अध्याय

परिवार से मेलजोल

भाग -9

अलका





इस तरह से मैंने जेन से उसके भाई बहनो बॉब, टॉम, लूसी और लिंडा के सेक्स के बारे में ज्ञान को जानना चाहा। .

"मुझे विश्वास है अगर एक बार उन्हें इसका ज्ञान हो जाए और उन्हें पता लग जाए तो वो भी पूरी तल्लीनता और गंभीरता से इस ज्ञान की बारीकियां सीख लेंगे तो मेरी ही तरह से वो सब करेंगे जो मैंने किया हैl" उसने जवाब दिया। " बॉब जब भी हमें चुंबन करता है तो मैंने अक्सर बॉब को कहते हुए भी सुना हैं कि हम उसके तन बदन में आग लगा देती हैंl" और फिर उसकी आँखों में गहराई से झाँकते हुए मेरी आँखों से मिली तो उसने शर्मा कर अपनी आँखे झुका ली।

मैं उसका जवाब सुन कर सोच रहा था. ये अपने भाइयो को कितना शरीफ समझती है जबकि दोनों एक नंबर के सेक्स के खिलाड़ी हैं और उन्होंने ही मुझे भी इस ज्ञान से परिचित करवाया हैl
वह फिर बोली . "ओह! प्रिय दीपक , मुझे डर है कि आप सोचेंगे कि हम कितनी ज्यादा असभ्य लड़कियां हैं, जब आपको पता चलेगा की लंदन में जब हम रात को सोते हैं, तो मैं और बहनें अक्सर हमारे नवोदित आकर्षण की तुलना करते हैं, और कुछ सेक्सी चुटकले जो हम अपनी दोस्तों से सुनती हैं वह आपस में सुनाती है। "

लूसी के पास तो मेरी और लूसी के गुप्तांगो पर बढ़ती हुई झांटो के बारे में और सिंडी की बाल रहित योनि के बारे में गंदे गंदे चुटकुले का भण्डार हैl जब वो एक बार शुरू हो जाती है तो काफी देर तक नए-नए चुटकुले सुनाती रहती हैl हमारे पास थप्पड़ मारने के ऐसे खेल हैं, और कभी-कभी रति क्रिया जैसे खेल भी खेलती हैं, इनसे अक्सर मेरा बदन अक्सर उत्तेजना से तपने लगता है, जैसे मुझे तेज बुखार का एहसास करा देता है। जिसका कारण मैं पहले नहीं समझ पाती थी पर अब आपके साथ हुए संसर्ग से मैं सब जान गयी हूँl इसके लिए हार्दिक धन्यवाद, मेरे प्रिय, काश, आप ऐसे समय में हमारे कमरे में झाँक कर देख पाते।"

"शायद इसका प्रबंध आसानी से किया जा सकता हैl आप जानती ही हैं उस भवन में मेरा कमरा आपके कमरे की बगल में है, मैं उसमे रात को सोने आ जाता हूँl फिर मैं आपको रात में हँसता और खेलता सुन सकूंगा।"

"मुझे पता है कि हमने कल भी ये किया, था हमें इसमें बहुत मज़ा आया था ," उसने जवाब दिया, "लेकिन मुझे डर है अगर आज भी हमने ऐसा किया तो मेरी सफाचट और सूजी हुई योनि देखकर उन्हें हमने आज क्या किया उसका सब अंदाज़ा हो जाएगा, प्रिय?"

फिलहाल जेन हमारे बीच जो भी हुआ था उसे सब पे उजागर नहीं करना चाहती थी, इसलिए उसे फिलहाल स्थगित कर दिया गया।

उसने पूरी तरह आनंद लेने के लिए से मेरी सब योजनाओं में हिस्सेदार होने का उत्साह दिखाया, अंत में मैंने एक प्लान बनाया जो यह बहुत अच्छा काम कर सकता थाl मैंने वो जेन के साथ सांझा किया और उसके परामर्श के अनुसार उसमे कुछ बदलाव भी किये।

फिर ये प्लान बना की मैं पहले बॉब को प्यार के तरीकों के बारे में में थोड़ा प्रबुद्ध करूं और जो की मैं जानता था वो हमारे उद्देश्य के लिए पहले से ही पका हुआ त्यार थाl जेन अपनी बहनो को एक साथ नग्न स्नान के लिए त्यार करेगीl हम तीनों बहनों को नग्न स्नान करते हुए आश्चर्यचकित कर देंगे, और उनके नग्न नितम्बो के चारों तरफ से थप्पड़ मारेंगेl जेन अपनी बहनों को हमारे सभी कपड़े फाड़ने के लिए प्रोत्साहित करेगी, और फिर हम सभी रति क्रिया में संलिप्त हो सकते हैं।

जेन इस विचार पर बहुत प्रसन्न थी, पर मेरे मन में एक संशय था क्या बॉब टॉम , जेन लूसी और लिंडा अपने भाइयो के साथ प्रेम का खेल खुल कर खेल पाएंगीl इतने में मेरा फ़ोन बजा और हमे शाम की चाय के लिए बुलाया गया और मैंने बाद में जेन से इस बारे में आगे बात करने का निश्चय किया और मैंने जेन से वादा किया की अगले दिन या अगर ठीक मौका मिला तो आज शाम को ही बॉब के साथ इस बारे में बात करूंगा।

हम घर वापस आ गए, खून तेज प्रवाह से जेन के गाल लाल हो गए थे और बॉब ने उसे देख कर टिप्पणी की कि बग़ीचे में घूमने का जेन के स्वस्थ्य पर जाहिर तौर अच्छा प्रभाव पड़ा था, जबकि असलियत ये थी की उसकी बहन ने, ईव की तरह, निषिद्ध फल का आज सुबह सुबह स्वाद चखा था। निषिद्ध फल, के प्रभाव का नतीजा था और इसीलिए वह बहुत खुश थी।
शाम की चाय के बाद मैंने बॉब से मेरे कमरे में सिगरेट पीने के लिए कहा, वह ख़ुशी ख़ुशी मेरे पीछे पीछे मेरे कमरे में आ गया जैसे ही मैंने दरवाजा बंद किया, मैंने कहा, " दोस्त क्या आपने कभी प्यार और आनंद की एक सुंदर किताब "कामसूत्र " देखी है?

"क्या, मुझे लगता है कि आप का मतलब है हिन्दुतान की मशहूर सेक्स ज्ञान पुस्तक,? दीपक , लेकिन अगर आपको यह मिल गयी है तो मैं उसे अवश्य देखना चाहूंगाl " वह बोला तो उसकी आँखें चमक रही थी।

"मेरे भाई, ये लो, केवल तुम्हारे लिए, मुझे आशा है कि यह आपको बहुत ज्यादा उत्तेजित नहीं करेगीl आप इसे अपने आप एकांत में देख और पढ़ सकते हैंl," मैंने कहा, और उसे अपनी अलमारी से निकालकर वो पुस्तक उसे दे दी। उसने उसे बहुत उत्सुकता से फटाफट पकड़ लिया।

वह वही मेरे करीब बैठ गया, और मैंने उसे देखा तो जब वह उस पुस्तक के पन्नो को पलट रहा था और जहाँ भी उसमे फोटो थी, वहां वो उनको रुक कर गौर से देखता थाl देखते ही देखते उसकी पेण्ट के अंदर उसका हथियार काफी कठोर और प्रचंड हो गया।

मैंने उसे जो योजना जेन के साथ मिल कर बनायीं थी, वह बताई तो उसने सहर्ष उसमे शामिल होने के लिए अपनी सहमति दे दी और मेरी योजनाओं में मेरा साथ देने का वादा कियाl हमने मौका मिलते ही लड़कियों से एक साथ मिलने का दृढ़ निश्चय किया।

तो मैंने उससे जो मेरा संशय था वो पुछा क्या आप दोनों बॉब और टॉम ,अपनी बहनो जेन लूसी और लिंडा साथ प्रेम का खेल खुल कर खेल पाओगेl बॉब ने मुझे तो अपने परिवार का एक विशेष राज बताया उसने कहा मेरे पिताजी, तुम्हारे फूफाजी की एक नहीं कई पत्निया हैंl जिनमे तुम्हारी बुआ भी शामिल है जेन और लूसी तुम्हारी बुआ से हैं और हम दोनों भाइयो की और शेष बहनो की माताए अलग अलग हैl हम सब आपस में सौतेले भाई बहन है, पर आपकी बुआ हम सबको अपनी ही संतान मानती है और एक जैसा प्यार करती हैंl हमे अपनी माओ से ज्यादा स्नेह आपकी बुआ से मिलता है और वह बहनो के साथ प्रेमालाप करने को उत्सुक हैं।

रात के भोजन से समय से बाद अलका वहां आयी तो जेन ने उसके साथ मित्रता कर ली और उसके अनुरोध पर अलका के साथ साथ जेन भी रात को वही मेरे भवन वाले भाग में रात में रुकने के लिए आ गयी।

अलका अपने साथ स्पेशल हलवा ले कर आयी थी मैंने उसमे मौका देखकर ख़ास देसी दवा मिली दी फिर हम सब ने मिल कर वो ख़ास दवा मिला हलवा खाया और मैंने उन दोनों को अपने कमरे में आमंत्रित कियाl

अलका बोली वह अपने कपडे बदल कर आती हैं और उन दोनों को जो कमरा दिया गया था वो उसमे चली गयी मैं अपने कमरे में गया, तो रोजी बिस्तर तैयार कर रही थी तो मैं दुसरे कमरे में जाकर बैठ गया ।

कुछ देर बाद अलका ने मेरा दरवाजा खटखटाया और कहा कि मैं तुम्हें परेशान करने के लिए माफी चाहती हूँ। तो मैंने पुछा क्या आपको कुछ और तो नहीं चाहिए? तो वो बोली नहीं कुछ ख़ास तो नहीं लेकिन आज मैं अकेला नहीं रहना चाहती, क्योंकि मैं कभी रात में अकेली नहीं रही हूँ। नींद भी नहीं आ रही है और जेन सोने जा रही है। मैंने कहा कोई बात नहीं आप मेरे पास बैठो।
उसने मुझसे पूछा कि क्या हम उसकी पसंदीदा फिल्म देख सकते हैंl मैं मान गया और उसे कुर्सी पर बैठने को कहा और मैं बिस्तर पर था। उसने कहा मैं भी बिस्तर पर बैठना चाहती हूँ, मैंने कहा ठीक है और हम बिस्तर पर बैठे मूवी देखने लगे। मूवी एक पुरानी रोमांटिक फिल्म थी और जब फिल्म चल रही थी तो एक भावनात्मक दृश्य था और वह अचानक रोने लगी।

मैं उसे देखकर हंस रहा था और मूवी देखते हुए रोने का मज़ाक बना रहा था। वह क्रोधित हो गयी और मुझ से लड़ने लगी तो मैंने एक बार और उसका मजाक बनाया तो वो मुझे मारने लगी, मुझे नहीं पता क्यों, लेकिन उसने वास्तव में मुझे 2 बार चोट दी और तीसरी बार उसके हाथों को मैंने पकड़ लिया और उससे पुछा कि तुम्हें क्या हो गया है मुझे वास्तव में लग रही है।
मैंने उसे कहा मुझे माफ़ कर दे मेरा इरादा उसे हर्ट करने का नहीं था मैं तो मजाक इसलिए कर रहा था ताकि वो रोना बंद कर दे क्योंकि वो रोती हुई बिलकुल अच्छी नहीं लगती हैl तो वोह बोली छोड़ो मुझे अब मैं तुम्हे नहीं मारूंगी, तो मैंने उसके हाथो को छोड़ कर उसका सिर पकड़ा और उसे ऊपर खींच लिया। उसने मुझे बिस्तर पर लिटा दिया और मेरे ऊपर आ गई । मुझे
बिलकुल नहीं पता था कि क्या हो रहा था।

और बोली " जब आपने मेरा मजाक बनाया तो मुझे बहुत बुरा लगा । ऐसी पिक्चर देख कर मैं ऐसे ही भावुक हो जाती हूँl मुझे खेद है मैं नहीं जानती मुझे क्या हुआ लेकिन मैं अभी भी उसी स्थिति में हूँ।" और फिर धीरे-धीरे मेरी छाती पर लेट गयी। मैंने एक बार फिर उससे माफ़ी मांगी तो उसने कहा कोई बात नहीं अभी आप मेरे बारे में कुछ भी ख़ास नहीं जानते हैं। उसने भी अपने व्यवहार और मुझे मारने के लिए मुझ से माफ़ी मांगी । मैं भी उससे कहा " अब ठीक है तो वो मुस्कुराने लगी तो मैंने कहा आप ऐसे ही मुस्कुराती हुई अच्छी लगती हैं। "
वो मेरे ऊपर लेटी रही और उसी पोजीशन में उसने मुझ से पुछा क्या मैं आपको अच्छी लगती हूँ? तो मैंने कहा बेशक आप मुझे अच्छी लगती हैं। आपकी मुस्कराहट इतनी अच्छी है के जब

आप मुस्क़ुराती है तो आपके चेहरे से नज़र ही नहीं हटती हैl मन करता है आप मुस्कराती रहे और मैं आपको देखता रहूl पहले तो वह थोड़ा शर्मायी फिर वह बोली बस इतना ही मेरा और कुछ आपको अच्छा नहीं लगता तो मैंने कहा अच्छा तो आपका पूरा पैकेज लगता हैl
अब मैंने उसकी तारीफ करनी शुरू कर दी।

आप कमसिन अल्हड सुन्दर गोरी तरुणा होl आपकी फिगर शानदार है और जबसे आपको उस दिन बग़ीचे में फूल चुनते हुए देखा है, तबसे मैं तो आपका दीवाना हो गया हूँ।
और फिर वह मेरे चेहरे के पास अपना चेहरा ले आयी और बोली मैं तुम्हें प्यार करती हूँ और मैं कुछ भी कह पाता इससे पहले कि उसने मुझे चूमना शुरू कर दिया मैंने उसके चुम्बन का जवाब दिया और उसे वापस चूमना शुरू कर दिया।

उसके होंठ उसकी लार से भरे हुए थे और वे इतने स्वादिष्ट और रसीले थे मैं उसके ओंठो को रास भरे आम के जैसे चूसने लगा। फिर उसने धीरे से मेरे लंड पर अपना हाथ रखा और कहा ओह तुम्हारा हथियार जाग गया है । फिर मैंने कहा कि हाँ क्यों नहीं जागेगा एक सुन्दर सेक्सी लड़की जिसे मैं पसंद करता हूँ, उसके रस भरे होंठो को चूस रहा हूँ और वो मेरे ऊपर लेटी हुई हैl क्या इतना काफी नहीं है इसके अरमान जगाने के लिए या आपको लगता इससे भी कुछ ज्यादा शरारती होना चाहिए।

तभी रोजी आ गयी और बोली आपका कमरा तैयार है आप कमरे में चलो कुमार। फिर अलका ने अपना हाथ हटा लिया और कहा कि फिर तो इसे कुछ देर और इंतजार करना होगा। तो अलका रोजी को अपने साथ ले गयी। बोली आप अपने कमरे में चलो हम आते हैं ।

मैं सोच रहा था कि वह क्या कर रही थी, तब एक नाइट गाउन में लिपटी वापस आयी और उसने मुझसे पूछा कि तुम इस गाउन के अंदर क्या है वो देखना चाहते हो? तो मैंने अपने पायजामे के ऊपर से ही लंड पर हाथ फिराते हुए कहा कि ये पूछने की क्या जरूरत है, बेशक हाँ।

आगे क्या हुआ ..

ये कहानी जारी रहेगीl

आपका दीपक

द्वितीय अध्याय
Reply
06-24-2022, 08:51 AM,
#18
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
अंतरंग हमसफ़र भाग 17

मेरे अंतरंग हमसफ़र

द्वितीय अध्याय

परिवार से मेलजोल

भाग -10

अलका की पहली चुदाई 



मेरी एक अन्य फूफेरी बुआ की बेटी अलका, मेरे सामने एक नाइट गाउन में लिपटी खड़ी, मुझसे पूछ रही थी क्या तुम गाउन के अंदर क्या है वो देखना चाहते हो? जब मैंने हाँ कहा तो वो बोली मैं भी तुम्हे देखना चाहती हूं। मैंने कहा ओके तो मुझे फिर क्या करना होगा? वो बोली आप भी अपने सभी कपड़ों को निकाल दे बस अपना अंडरवियर पहने रखे।

मन तो कर रहा था अलका को पकड़ कर उसका गाउन फाड़ डालू, पर मैंने खुद पर किसी तरह नियंत्रण किया और जो खेल अलका मेरे साथ खेल रही थी, उसका साथ देते हुए खेलने के लिए वो जैसा कहेगी वैसा करता रहा। मैंने फटाफट अपना कुरता और पायजामा उतार फेंका ।

आगे क्या होने वाला है इस प्रत्याशा में मेरा हथियार अपना विकराल रूप धारण कर चूका था और अंडरवियर के अंदर से मेरे लंड का उभार नज़र आ रहा था । फिर उसने कहा ठीक है अब आप खड़े हो जाओ।

फिर उसने वह गाउन खोलने लगी तो मैंने उसे रोक दिया और रोजी को बुलाया अब वो मुझे चौंक कर देखने लगी तो मैंने कहा अब तुम भी थोड़ा सा इंतज़ार करो ।.मैंने उसे कहा ये हमारा पहला मिलन है इसे यादगार बनने के लिए मैंने भी कुछ इंतजाम किया है । तुम जरा उसका भी जायजा ले लो. और रोजी उसको अपने साथ दुसरे कमरे में ले गयी । कुछ देर बाद रोजी मेरे पास आयी मुझे चूमते हुए बोली अलका सच में बहुत सुन्दर है। आपको बहुत बहुत बधाई! और बोली अब आप अपने कमरे में अलका के पास जा सकते हो वो आपका इंतजार कर रही है।

अंदर मेरे कमरे का नज़ारा ही अलग था पूरा कमरा और बिस्तर फूलो से सजा हुआ था। फूलों से सजी धजी अलका को रोजी कमरे में हमारे पहले मिलन के लिए ले आयी। और मुझे छेड़ने लगी है कुमार धीरे से कीजियेगा, बहन अलका कमसिन और नाजुक हैं । वह हँसते हुए अलका को मेरे पास छोड कर एक तरफ चली गयी ।.

अलका ने लाल लेहंगा चोली चुनरी और ढेर सारे गहणे पहने हुए थे. और साथ में गजरा और फूलों से श्रृंगार किये हुए स्वर्ग से आयी हुई अप्सरा लग रही थी. मेरा लंड उसे दुल्हन के रूप में देख कर बेकाबू हो गया और मैं पूरी तरह से काम रोग से ग्रस्त हो गया था। अलका बिस्तर के पास शर्मायी हुई अपने पैरो की तरफ देख रही थी। उसने घूंघट किया हुआ था। उसका चेहरा शर्म और आगे जो होने वाला था वह सोच नीचे झुका हुआ था। मैंने आगे होकर उसका हाथ अपने हाथ में ले लिया और उसको बेड पर ले गया ।!उसका नरम गर्म हाथ पकड़ते ही मेरे तनबदन की आग और भड़क गयी और मेरा लंड सनसनाता हुआ पूरा 8 इंची बड़ा हो गयाl लगा वो अंडरवियर फाड़ कर अभी बाहर आ जाएगा ।

मैंने अलका को कहा कैसा लगा आपको ये सरप्राइज? तो अलका बोली जबरदस्त! मैंने सपनो में भी नहीं सोचा था आप मुझे ऐसा सरप्राइज दोगे। मैंने कहा अलका, जब से आपको फूल चुनते हुए देखा तब से आप को पाना चाहता था। वह और भी शर्माने लगी और मेरे बहुत कहने पर मीठी आवाज़ में बोली मैं बचपन से जब आप मेरे साथ खेला करते थे तब से आप को पसंद करती हूँ।.उस दिन जब आप हमसे मिलने आये तब से मैं आपको पाने के लिए तड़पने लगी और आज हमारे मिलन की सुनहरी घडी आ ही गयी है। मैंने उसका घूंघट उठाना चाहा तो वो घूंघट पकड़ कर बोली पहले मुँह दिखाई की रस्म तो पूरी कीजिये ।

फिर मैंने इशारा किया तो रोजी ने मुझे एक पैकेट पकड़ा दिया और मैंने उसे खोल कर एक अंगूठी उसको नज़राने के तौर पर दिया। वह बोली आप ही पहना दीजिये। मैंने उसे अंगूठी को पहनाया, उसके हाथ को चूमा और फिर धीरे से उसका घूंघट उठा दिया।

दूध जैसी गोरी चिट्टी लाल गुलाबी होंठ! नाक पर बड़ी नथ, मांग में टिका बालो में गजरा, उसका चेहरा नीचे को झुका हुआ था इतनी सुन्दर अलका को दुल्हन के रूप में देख मेरे मुँह से निकला वाह रोजी!! तुम ठीक कह रही थी अलका वाकई में बहुत सुन्दर है और दुल्हन के रूप में तो बस क्या तारीफ करूँ समझ ही नहीं आ रहा। मेरा लंड फुफकारने लगा था अब मुझ से सब्र नहीं हो रहा।

मैंने धीरे से उसके चेहरे को ऊपर किया अलका की आँखे बंद थी। बोला अलका मेरी महबूबा अपनी आँखे खोलो और अपने दीवाने प्रेमी को देखो। उसने आँखे खोली और हलकी से मुस्करायी मैंने उसका ओंठो पर एक नरम सा चुम्बन ले लिया। वह फिर शर्मा कर सिमट कर मुझ से लिपट गयी. मैंने अलका को अपने गले लगाया और पीठ पर हाथ फिरा उसकी पीठ बहुत चिकनी थी उसकी झीनी से बैकलेस चोली थी जो सिर्फ दो डोरियों से बंधी हुई थीl

जब मैंने उसके कपडे उतारने शुरू कर दिए और धीरे से उसकी चुनरी हटा दी । उसका चाँद सा खूबसूरत रूप मेरे सामने था । मैं तो एकदम से सन्न हो उसे देखता ही रह गया। गोरी चिट्टी कमसिन तीखी नैन नक्श. गोल मुस्कुरता हुआ शर्म के मारे लाल चेहराl मेरा लंड का तनाव फिर बढ़ने लगा ।

मेरे हाथ अब अनछुए मोमो पर जा चुके थे। मैंने ऊके गोल गोल बूब्स को पहले सहलाया, फिर चोली के ऊपर से ही दबाया। मैंने महसूस किया उसके अनछुए बूब्स बहुत नरम मुलायम गोल और सुडोल थे।

उसकी चोली जिसमे उनके स्तन बाहर आने को आतुर थे। उसकी चोली स्लीव लेस थी मैंने उसकी चोली के ऊपर की डोरी खोल दी और उसके कंधो और बाँहों पर किस करने लगा । उसके बाद नीचे की भी डोरी खिंच कर चोली की अलग कर दिया। उसने नीचे लाल रंग की सेक्सी ब्रा पहनी हुई थी ।

फिर मेरे हाथ स्तनों पर से अपने हाथ नीचे की और बढाए और लहंगे पर पहुँच गए. मैंने लहंगे का नाडा खोल दिया और लहंगा खींच कर उतार दिया। उसने नीचे एक बेहद सेक्सी अधोवस्त्र पहनी हुई थी।

तो मैं धीरे से बोला प्रिय अलका क्या यही वह जलवा है जो तुमने उस गाउन में छिपा रखा था और मुझे दिखाना चाहती थी। अब मेरे और तुम्हारे सरप्राइज दोनों का मिला जुला जादुई असर मुझे देखने दो ।

अलका एक गोरी लड़की थी, लगभग 5'5 in या उससे अधिक की ऊँचाई वाली और सुंदर गोल दृढ ३४क साइज के स्तन उसकी शान थे और उसकी गोल गांड और भी सुंदर थी। ये सभी और उसके आकर्षण का केंद्र थे । उसने नीचे बेहद सेक्सी अधोवस्त्र पहनी हुई थी और ऐसी सेक्सी अंडरवियर को देखकर मैं एकदम भौचक्का रह गया। चूत को ढँकने के लिए उसने थोड़े थोड़े पतले कपड़े (सिर्फ पतली पट्टियाँ और हीरे के आकार में थोड़ा काला कपड़ा पहना है। ब्रा में बाहरी किनारों पर सामग्री की तरह सफ़ेद फर था, जो बिल्कुल तेजस्वी था । और उसके ऊपर रोजी के पहनाये हुए गहने थे । मांग में टीका . बालो में चूरामणि , कानो में लटकी सुन्दर बालिया और नल में बड़ी सी सुन्दर नथ,

पैरों की ऊँगलियों में बिछिया, पैरों में पायल, कमर में करधनी, हाथों की ऊँगलियों में अनेक अंगूठियाँ, हाथो के फूल, कलाई में चूड़ियाँ व कंगन, गले में हार और मटरमाला या चेन. मैं बस उसे देखता ही रह गया।

अलका की आँखे शर्म के मारे बंद थी, उसे कमरे में मौजूद एक आदम कद शीशे के सामने ले गया और बोलै प्लीज अपनी आँखे खोल कर देखो ।

उसने आँखे खोली और कहा ओह मेरे प्रिय दीपक मैंने ये पहले ही देख लिया था। मुझे एहसास था ये आप पर जादुई असर करेगा और आपको उसमे मैं आश्चर्यजनक लगूंगी। उसने कहा कि आप यू सिर्फ वहीं खड़े रहेंगे और दृश्य की प्रशंसा करेंगे या आप मेरे साथ कुछ करेंगे। मैंने कहा अलका देखो इस मिले जुले सरप्राइज सेक्सी अधोवस्त्र और गहनों का मुझ पर क्या असर हुआ है और अपना अंडरवियर नीचे उतार दियाl मेरा लंड पूरा ९० डिग्री पर तना हुआ था और फुदक कर सलामी दे रहा था। उसने शर्मा कर फिर अपनी आँखे बंद कर ली।

मैं विश्वास नहीं कर सकता था कि अलका बहुत सुंदर लग रही थी। मैंने कहा प्रिय अलका अपने प्रेमी को देखो तो उसने धीरे से आँखे खोली। यह पहली बार था जब उसने पुरुष के लिंग को इतने उत्कृष्ट कठोर और प्रकट और विक्रांत रूप में देखा था, और उसकी पहली प्रतिक्रिया ईमानदार प्रशंसा थी। जिस तरह से उसकी आँखों अभी भी स्पार्कलिंग थे। मैंने लंड को सहलाया और ऊपरी त्वचा को पीछे किया तो गुलाबी लिंगमुण्ड उजागर हो गयाl मैंने और भी अधिक प्यार में अलका के हाथ को पकड़ा और अपने लंड पर रख दियाl उसने धीरे से एक बार लंड को हाथ से सहलाया और लंड को छोड़ कर, फिर शर्म के मारे अपने हाथो से अपने चेहरे हो छुपा लिया ।

मैंने उससे पुछा कैसा लगा तो वो शर्मा कर बोली आपका तो काफी लम्बा और बड़ा है। मेरी तो दुर्गति कर देगा। मुझे बहुत डर लग रहा है तो मैंने कहा घबराओ मत, ये ही तो इस प्यार के खेल का असली औजार हैi यही तुम्हे और मुझे जन्नत की सैर करवाएगा, इसलिए, बिलकुल मत घबराओ एक बार इस के साथ मजे ले लोगो तो इसके बिना रह नहीं पाओगी, तो वह धीरे से मुस्कुरा कर मेरे गले लग गयी ।

मैंने उसके माथे को चूमा । उसे धीरे से उठाया और मैं उस को बिस्तर पर ले गया और उसे एक पागल आदमी की तरह चूमना शुरू कर दिया। उसने मुझे कहा जल्दी क्या है आराम से करो सारी रात हमारी है मैं कहीं नहीं जा रही हूँ।

मैंने कहा प्लीज मुझे माफ़ कर दो इस अधीरता के लिए । क्या करून तुम्हारा ऐसा रूप देख कर मेरा अब होने आप पर काबू नहीं रहा । मैं काम वश हो गया और फिर उसने मेरा सर पकड़ा और मेरे ओंठो से अपने ओंठ मिला दिया और हम 10-15.मिनट चुम्बन करते रहे जिससे मेरे जज्बात कुछ काबू में हुए।

मैंने चुम्बन को तोडा और गर्दन पर चूमते हुए धीरे धीरे नीचे का रास्ता पकड़ने लगा । जब मैंने उसकी गर्दन पर चूमा तो उसके बदन ने थोड़ा झटका दिया और उसने मुझे कस कर अपने गले लगाया। मैंने फिर धीरे से उसकी सेक्सी काली अधोवस्त्र ड्रेस को उतार दिया और अंदर पहनी हुई गुलाबी ब्रा देखी।

जब मैं उसे लिप किस कर रहा था तो वो मेरे बाल कस कर पकड़े हुए थी । मैंने फिर उसके शरीर की पूरी महिमा को सराहा। मैं समझा नहीं सकता कि वह कितनी सुंदर है , गुलाबी ब्रा उसके स्तनों पर चमक रही थी और नाभि एक ऐसी कुंवारी गुफा की तरह थी जिसका पता लगाया जाना अभी बाकी था। उसके शरीर के सभी अंग सुडौल थे उसकी बलखाती कमर स्पॉट पेट और गोल चिकनी नितम्ब और मुझे उसकी पारदर्शी पतली सी पेंटी में से में गुलाबी चूत दिख रही थी ।

मैं धीरे से उस के ऊपर चढ़ गया और उसके होंठो को चूमा तो उसने अपनी बाहो को मेरे चारो और लपेट लिया । हमारे चुंबन अब नरम नहीं थे बल्कि जो उत्तेजना और जोश आ गया था उसके अनुसार ही गर्म से गर्मतर होते जा रहे थे। फिर होंठ थोड़ा खुल गए और हमारी झीभे एक दूसरे के चारों ओर नाच रही थी, और दुसरे की होंठ और मुंह में सब जगह घूम रही थी जैसे कुछ खोज रही हो ।

मैंने उसके नंगे कंधे को चूम लिया। मैं धीमी गति से चुंबन करते हुए उसकी ब्रा के पट्टे से होते हुए उसकी गर्दन पर चुंबन रोपण किये जिससे अलका कराहने लगी ।

आगे क्या हुआ, ये कहानी जारी रहेगीL



आपका दीपक

द्वितीय अध्याय
Reply
06-24-2022, 08:52 AM,
#19
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
अंतरंग हमसफ़र भाग 18

मेरे अंतरंग हमसफ़र

द्वितीय अध्याय

परिवार से मेलजोल

भाग -11

अलका फूफेरी बहन के साथ चुंबन



जिस तरह और गति से, मुझे नयी नयी लड़किया मिल रही थी और मैं उनकी चुदाई कर रहा था, उससे मैं भी हैरान था, पर यहाँ शिकायत किसको थीl मजे मिल रहे थे और मैं उनको लूट रहा था l

इस तरह मैंने अलका के नंगे कंधे को चूम लिया। मैं धीमी गति से चुंबन करते हुए उसकी ब्रा के पट्टे से होते हुए उसकी गर्दन पर चुंबन रोपण किये जिससे अलका कराहने लगी ।

मैंने उसे बिस्तर पर चित्त लिटा दिया। मैंने धीरे से उसकी गर्दन को चूसा जिससे अलका फिर से कराहने लगी। अपने होठों को अलग करते हुए, मैंने उसे उस प्यार से एक छोटे से निशान से लेकर उसके कान के निचले हिस्से तक चूमते हुए उसकी कामुक गर्दन को अपनी जीभ की नोक से गीला कर दिया। उसने धीरे से उसके कानों को चूसा, उस पर अपने होठों से किस किया। फिर अपनी जीभ उसके पूरे कान के बाहरी हिस्से पर घुमाई, फिर जीभ की नोक उसके कान के अंदर गुसाई तो वो फिर इसससस करती हुई कराह उठी और फिर धीरे से उसके कान के नीचे की लटकन को चूसने लग गया ।

मैं जो कुछ कर रहा था, उसकी कामुकता पर अलका हैरान थी। उसका मन नियंत्रण से बाहर हो रहा था और उसका शरीर पहले से ही खुशी की लहर पर सवार था, जिसकी तीव्रता धीमी होने का कोई संकेत नहीं दिखा रहा था। मेरे होठ उसके कान से उसके माथे पर चले गए, और फिर मैंने उसकी आँखों में से प्रत्येक पर एक कामुक नरम चुम्बन किया । उसके गाल उसके नाक, और फिर उसकी ठोड़ी। अलका की आँखे बंद थी । जैसे मैं उसे किस कर रहा था उससे उसने अनुमान लगाया के अब मैं उसे ओंठो को किस करूंगा ।

बेसब्री से मेरे होठों का अपने होठों का अनुमान लगाते हुए, अलका ने अपना सिर ऊपर कर लिया ताकि हमारे ओंठ मिल जाए लेकिन मैंने उसके ओंठो पर अपनी कुछ गर्म साँसे छोड़ी जिससे उसे मालूम हो गया मेरे ओंठ उसके ओंठो के ऊपर ही मंडरा रहे हैं, इतना पास के उसे मेरे ओंठो का अनुमान लगता रहे पर किस न हो । हमारी साँसे तेज चल रही थी मेरी गर्म सांसे वो मह्सूस कर रही थी और मैं उसकी गर्म साँसे महसूस कर रहा था ।

उसने अपने होंठ अलग किए और मुँह खोला और फिर से अपना सर उठा कर मुझे चुंबन करने की कोशिश की, लेकिन मैंने अपना सर उतना ही पीछा कर लिया जितना उसने उठाया था ताकि ओंठो का चुम्बन उसकी पहुँच से बाहर रहे । वह व्यग्र हो उठी और आँखे बंद रखते हुए बोली"मेरे ओंठो पर चुम्बन कीजिये प्लीज, मेरे ओंठो को क्यों तरसा रहे हो आप, प्लीज, मुझे अपने ओंठ दीजियेl"अलका ने गुहार लगायी और उसने अपने ओंठ खोलते हुए जीभ को लहराते हुए अपना सर और ज्यादा ऊपर उठा दिया। वो तड़प उठी थी ।

मैं उसकी तड़प को और नहीं देख सका और अपने खुले मुंह को उस के मुँह पर लगाया। अब इस के बाद व्यग्रता के कारण अलका ने ऐसा तीव्र चुंबन किया जिसकी तीव्रता बहुत अधिक थी । यह किस काफी लम्बा चला ये क्षण सिर्फ मेरा और अलका का था, इस क्षण और कुछ महत्त्व नहीं रखता था, कुछ नहीं और कुछ भी अस्तित्व में नहीं रहा। वह मेरी थी और मैं उसका था । शरीर, मन और आत्मा दोनों एक हो गए ।

शाश्वत प्रेम में डूबे हुए प्रेमी, पता नहीं कितनी देर तक एक दुसरे को चूमते रहे, ऐसे जैसे कोई जन्मे के बिछड़े प्रेमी मिल गए हो । हम प्रेमियों ने एक दूसरे को, अपने हाथ और पैर, शरीर के चारों ओर लपेटकर चूमा। कभी मैं ऊपर कभी वह ऊपर बस पागलो की तरह चूमते रहे । अलका ने अपनी उंगलियों को मेरी नंगी पीठ के ऊपर और नीचे दौड़ाया, धीरे से उसने अपने नाखूनों को नेरी पीठ की त्वचा पर रगड़ दिया। मेरी उंगलियों ने उसकी रेशमी अधोवस्त्रो को महसूस किया मालूम ही नहीं चल रहा था कहाँ अधोवस्त्र समाप्त हो रहे हैं और उसकी त्वचा कहाँ से शुरू हुई। मेरा स्पर्श उसकी निर्दोष चिकनी रेशमी त्वचा जो वस्त्रो की मुकाबले काफी गर्म थी उसे महसूस कर रहा था ।

मैंने हाथ नीचे खिसकाया और धीरे से उसकी गांड को सहलाया। जैसे-जैसे हमारे होंठ और जीभ अपने हमले जारी रखते थे, मेरे हाथ उसकी चिकनी पीठ और उनके कामुक नितम्बो के गालो को ऊपर-नीचे हो रहे थे। मैंने धीरे से अपने हाथों से उसकी गांड को दबाया तो अलका ने मुझे और भी अधिक आक्रामक तरीके से चुंबन करते हुए जवाब दिया। मैंने उसकी गांड की दरार में अपनी उंगलियाँ फँसा दी और उसकी गीली पैंटी से ढँकी चूत तक पहुँच धीरे से अपनी उंगली उसके ऊपर चलाई। अपनी उंगली पर गीलेपन का आनंद लेते हुए, उसने उसकी चूत को रगड़ा और अपनी उंगली से उसकी चूत के दाने को दबाया। मैं उसकी चूत पर हाथ फेरने लगा उसे जैसे करंट सा लगा और उसने मुझे कस कर पकड़ लिया और मुझसे लिपट गयी, उसका गोरा बदन सुर्ख लाल हो गया थाl

"ऊह यस।"अलका कराही और उसने चुंबन तोड़ दिया । उसने वासना भरी आँखों से मुझे देखा और उसे फिर मुझे उतनी ही उत्तेजना से दुबारा चूमा, मैंने अपने जीभ उसके मुँह में सरका दी तो वो मेरी जीभ चूसने लगी । मेरा हथियार अपने पूरे जोश पर था वो भी उसके बदन पर अपने चुम्मे दे रहा था और अपनी म्यान को छुपा रही उसकी हीरे के आकार वाली पेंटी को फाड़ कर म्यान प्रवेश के लिए मचल रहा था। वो अभी भी अपने हाथों को मेरी पीठ और नितंब पर चला रही थी ।

वह मेरा लिप किस में भरपूर साथ दे रही थी फिर मैंने भी अपनी जीभ उसके मुँह में डाल दी और वह मेरी जीभ को चूसने लगीl मेरी जीभ जब उसकी जीभ से मिली तो उसका शरीर सिहरने लगाl अलका मुझसे कस कर लिपट गयीlमेरे हाथ अब उसके स्तनों पर पहुँच गए मैंने चुम्बन करते करते उसके गोल गोल बूब्स को पहले सहलाया फिर ब्रा के ऊपर से ही दबायाl मैंने महसूस किया उसके अनछुए बूब्स बहुत नरम मुलायम गोल और सुडोल थेl मेरे हाथ को उसके निप्पल जो उत्तेजना के अतिरेक से कड़क मह्सूस हुए और लगा अब समय आ गया है जब अलका के बदन को सब बंदनों से आज़ाद कर देना चाहिए ताकि प्रेम के सागर में वो आज़ादी भरी डुबकी का आनंद ले सके l

मैंने चुम्बन को तोड़ दिया तो उसने मेरी तरफ ऐसे देखा के चुम्बन क्यों तोड़ दिया और वो दुबारा मेरे सर को पकड़ कर किश करने लगी l तो मैंने अपनी उंगलिया उसके गले के पास उसकी रेशमी ब्रा के स्ट्राप में घुसा कर उसकी पीठ तक ले गया चुम्बन को तोडा फिर उसको उसके सिर के ऊपर खींच लिया तो उन भी बाहे ऊपर उठा कर पूरा साथ दिया, जिससे वह ब्रा लेस हो गई। पर अभी भी उसकी छाती पर हार और गहने थे । मैंने एक बार फिर उसको देखा गहनों में अलका बेहद आकर्षक लग रही थी मैंने उसे गले लगाया तो तो धीरे से बोली , हार चुभ रहा है l आपको नहीं चुभा l मैं कुछ नहीं बोला और उसकी गर्दन के पीछे हार की डोरी को ढीला करने लगा उसे भी समझ आ गया, अब सभी बंधन खोलने का समय आ गया थाl

मैंने उसके बूब्स को सहलाया अब उसे ये भी समझ आ गया l मैंने चुम्बन क्यों तोडा था और उसके गले में पहने गहनों को उतार दियाl l बिच बिच में मैं उसकी मदहोश आँखों में देखता था तो वह मुस्करा देती थी मेरे एक हाथ उसकी पीठ पर था l

मैं बैठ गया तो अलका भी अपनी बाजुओं के भार होकर बैठने लगी जिससे उसके बड़े बड़े गोल सुडोल और दृढ अनछुए स्तन अपना आकार बताने लगे । मैंने बस धीरे से उनके ऊपर हाथ चलाने से पहले उन्हें गौर से देखा । और स्तनों के नीचे हाथ रख कर उनका बजन महसूस करने लगा उसके सख्त और गुलाबी निप्पल सीधे मेरी और इशारा कर रहे थे । मेरी वासना चरम पर थी तो मैंने उसके स्तनों की मालिश करना शुरू कर दिया ।

अलका फिर कराहने लगी जिसे सुनकर, मैंने अलका को धीरे से उसकी पीठ पर लेटा दिया। और उसकी ओंठो पर किस किया फिर उसकी ठोड़ी पर गर्दन पर किस करते हुए धीरे धीरे उसके स्तनों की और बढ़ा उसके दाए स्तन को किस किया और फिर स्तनों के बीच की घाटी को किस करके चाटा और फिर उसके दाए स्तन को किस किया और चाटा क्योंकि मैं उसके दायी और ही था l फिर उसके स्तनों के नीचे मुँह लेजाकर स्तनों के निचले हिस्सेको भी चूमा और चाटा l जहाँ उसके स्तन उसकी छाती से मिलते थे वहां चूमा तो वह कराह उठी l फिर धीरे धीरे चूमते हुए उसके निप्पल की और बढ़ने लगा उसके निप्पल उत्तेजने से एकदम खड़े हो कर मुझे आमंत्रित कर रहे थे प्लीज हमे चूसो उधर अलका आँखे बंद कर लेटी हुई थीl

आगे जो हुआ वो मेरे लिए बहुत मुश्किल था पर मैंने पता नहीं कैसे कर लिया मैंने उसके निप्पल को न तो चूमा न चूसा l एक दो फूक मारी और उनके आस पास चूमते हुए सारे स्तन को चूमने लगा अलका इस प्रत्याशा में थी के अब मैं उसके निप्पल चूसूंगा उनसे खेलूंगा पर मैंने सोचा इसे एक बार फिर जैसे ओंठो के चुम्बन के लिए तड़पाया था वैसे ही तड़पाया जाय l क्योंकि उसके बाद जैसा चुम्बन मिला था शायद वैसा की कुछ अब फिर हो जाए l

तो मैंने फिर बाए स्तन पर किस करते हुए उसके नीचे के हिस्से तक गया और उन्हें भी बाए स्तन की तरह निचले हिस्सेको भी चूमा और चाटा l तो वह कराह उठी l फिर धीरे धीरे चूमते हुए उसके निप्पल की और बढ़ने लगा उसे लगा मैं उसके बाये निप्पल को चूसना अब शुरू करूंगा पर मैंने निप्पल को न तो चूमा न चूसा l एक दो फूक बाए निपल पर मारी और उनके आस पास चूमते हुए सारे स्तन को चूमने लगा उसे मेरी गर्म साँसे पाने स्तनों पर महसूस हो रही थीl

पर इस बारी वो मेरी शरारत भरी चाल को समझ गयी थी उसने मेरा सर पकड़ा एक गति में, उसने मेरा मुंह उसके उभरे हुए निप्पल पर उतारा और मैंने उस को चूमा फिर पूरे निप्पल को चूसा, मेरी इस अचानक आक्रामकता ने अलका को उत्तेजित कर दिया और उसने मेरे द्वारा और अधिक निप्पल चूसने के लिए अपनी पीठ उठा कर उसे धनुषाकार कर दिया। वो बोली दीपक चूसो इनको जोर से चूसो आह उह प्लीज ऐसे ही चूसते रहोl मैं एक हाथ से एक स्तन दबा रहा था और दुसरे हाथ से दूसरा और साथ साथ निपल चूस रहा था और आसपास के स्तन के हिस्से को अपने मुँह में ले लिया।

मैंने उसका बाय निप्पल पूरा मुँह में लेते हुए अपनी जीभ पूरे निप्पल पर घुमाई और उसके स्तन के कुछ हिस्से को को धीरे-धीरे मुँह से बाहर निकाल दिया। मैंने निप्पल को चूसना जारी रखा, अपनी जीभ को निपल के चारो और घुमाते हुए उसके निप्पल को ओंठो के बीच दबा कर धीरे से खींचा। फिर स्तनों को अपने हाथ से सहलाया और धीरे से नीपल्ल को हल्का सा काटा जिससे अलका के शरीर में हलके से दर्द भरे आनद की लहर दौड़ गई। उसने मुझे"चूसोl मेरे बेबी! इनको चूसो"कह कर मेरा जोश बढ़ाया और बोली"यह बहुत अच्छा लगता है!"

जहाँ तक निप्पल चूसने का मसला था , मुझे इसके लिए किसी प्रोत्साहन की आवश्यकता नहीं थीl लड़कियों के स्तन मुझे हमेशा आकर्षित करते थे और मैंने एक बार अपनी माँ को किसी से बात करते हुए सुना था की बचपन में भी दूध पीते हुए मैं उनके निप्पल आसानी से छोड़ता नहीं था l और स्तनों पर खूब हाथ मारता था l वैसे भी मनोविज्ञानिक कहते है नवजात के लिए भी चूचक वो स्थान है जहाँ पर उसे मीठा दूध मिलता है इसलिए स्तन और चूचक हर इंसान चाहे वो लड़का हो या लड़की हो, अति प्रिय होते हैं और मैं भी इस मामले में कोई अपवाद नहीं था l

आगे क्या हुआ ... ये कहानी जारी रहेगीl



आपका दीपक

द्वितीय अध्याय
Reply

06-24-2022, 08:53 AM,
#20
RE: Intimate Partners अंतरंग हमसफ़र
अंतरंग हमसफ़र भाग 19

मेरे अंतरंग हमसफ़र

द्वितीय अध्याय

परिवार से मेलजोल

भाग -11

अलका के साथ सम्भोग से पहले चाटना चूमना.



स्तन मेरी हमेशा कमजोरी रही है। मेरे ऐसे चूसने से अलका स्वर्ग में पहुँच गयी थी। कुछ देर बाद मैं इस स्तन से थक गया, तो समान शक्ति के साथ दूसरे स्तन को चूसने लगा। अपने जुनून में, मैंने उसके दूधिया और कोमल मांस के चारों ओर प्रेम से काटने लगा, कुतरने लगा जिससे उसके स्तनों पर काटने के निशान पड़ गए। मैंने उसकी छातियों को हाथो से पकड़ लिया और जोर से दबाने लगा इससे उसके दोनों बूब्स एक दम लाल हो गए। फिर मैंने उनके निप्पल्स को पकड़ लिया और मसलने लगा। दोनों बूब्स एक दम नरम मुलायम गोल सुडोल थे, अलका के गुलाबी निप्पल उत्तेजना से खड़े हो चुके थे।

मेरे हाथों ने उनके स्तनों को अपनी हथेलियों में भरा और उन्हें किस करने लगा। मैंने स्तनों को सहलाना शुरू कर दिया। हम दोनों की साँसे तेज तेज चलने लगी। फिर एक के बाद दुसरे निप्पल को लगातार चूसने लगा। फिर एक बिंदु पर मैंने दोनों स्तनों को एक साथ निचोड़ा और एक साथ में दोनों निपल्स को मुँह में ले लिया, चूसा , अपनी जीभ को दोनों स्तनों के आगे पीछे की ओर घुमाया। उसकी आँखें पूरी तरह से बंद थी. वह मेरे हर प्रयास को अनुभव कर रही थी और उसका पूरा मजा ले रही थी।

उसको दोनों स्तनों पर हुए इस लगातार आक्रमण से अलका अपना नियंत्रण खो रही थी। उसका पूरा शरीर बिजली के करंट जैसी उत्तेजना महसूस कर रहा था और उसने कभी भी इस तरह की उत्तेजना महसूस नहीं की थी। उसे लगा कि उसके स्तन सूज गए हैं और उसके निप्पल इतने सख्त लग रहे हैं कि वह डर गई कि वे विस्फोट करेंगे।

हर अर्थ में अलका के लिए एक नया अनुभव था क्योंकि न केवल वह एक कुंवारी थी, उसने पहले कभी हस्तमैथुन भी नहीं किया था। उसकी टाँगों पेट और छाती कांपने लगे। उसकी साँसें छिटपुट हो रही थीं और उसकी त्वचा फड़क रही थी। मैंने उसकी क्लिट को चूसते हुए उसका मौखिक हमला जारी रखा और जब उसने अपने होंठों से उस पर दबाव डाला, तो अलका उसके पहले संभोग सुख की उमंग में चिल्ला उठी! फिर उसका शरीर अकड़ने लगा उसकी साँसे तेज चलने लगी उसके शरीर में एक उफान आया और वह निढाल हो कर मुझ से लिपट गयीl

मैंने उसे किस करके पुछा क्या तुमने पहले भी कभी कुछ ऐसा अनुभव किया है तो वो बोली नहीं कभी नहीं। ये निश्चित तौर पर उसका पहला ओर्गास्म था . हम कुछ देर ऐसे ही लेते रहे जब तक उसकी साँसे कुछ नियंत्रित नहीं हो गयी। फिर मैंने पहले उसे किश किया और उसके स्तनों से खेलना शुरू कर दिया। फिर कानो को किश किया जब उसकी प्रतिक्रिया से ये महसूस होने लगा वो दुबारा गर्म हो गई, तो हमारी किश जयादा गर्म होने लगी। तो मैंने धीरे धीरे नीचे को और चलने लगा उसकी गर्दन फिर उसकी बाजू ऊपर उठा दी और उसकी कांख ( armpit ) को चूमा वो इस करके कराहने लगी। मैं उसकी छाती और फिर स्तन और फिर निप्पलों को चूसने और चूमने लगा।

अब नीचे उसका स्पॉट पेट मेरे चूमते ही उसकी पतली नाजुक कमर बल खाने लगी। उसकी कमर में कमरघनी उसकी पतली कमर की शोभा बढ़ा रही थी। मैंने अपनी जीभ से गीली चटाई शुरू कर दी।पेट एकदम सपाट था कमर पतली और नाजुक मैंने उनके एक एक अंग को चाट डाला। फिर उसकी गुफा जैसी नाभि के बाहर चारो तरफ चूमा और फिर चाटते हुए अपनी जीभ उसकी नाभि में घुसा दी। वो एक दम से उछल गयी। मेरे उसके नाभि में हर हिस्से में जीभ घुमाई। उधर मेरे हाथ उसके स्तनों को दबा फिर उसके निप्पल को मसलने और खींचने लगा। वो बोली प्लीज मुझे कुछ हो रहा है।

फिर मैं और नीचे जाने लगा और उसके नाभि के नीचे किस करता हुआ उसकी जंघा के पास पहुंचा और उसकी आंतरिल जंघा पर एक किश की और चाट कर धीरे धीरे उसकी योनि की और जाने लगा पर योनि को नहीं छुआ और घुटनो की तरफ किस करता चला गया, फिर घुटनो के आंतरिक हिस्सों और फिर घुटनो पर फिर पिंडलिया और फिर टखना और फिर पैर और पैरो की उंगलियों को चूमा और चूसा फिर उसके दोनों पैरो को मिला दिया और दुसरे पैर को चूमा और फिर धीरे धीरे से टखनो फिर पिंडलियों , घुटनो को चूमते हुए उसकी जांघो को चूमते हुए उसकी जंघा के बीच के स्थान की और बढ़ता गया।

जब मैं अलका के टांगो के मध्य के करीब पहुंचा तब तक चुंबन करना जारी रखा। अलका ने मुझे उसके नारीत्व पर आक्रमण करते हुए देखने के लिए अपना सिर ऊपर किया। उसने उसे करीब से देखा और महसूस किया कि मेरी जीभ उसकी फीते से ढकी हुई पेटी के सिरों पर टिकी है। वह मुझे आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए अपने पैरों को अलग करती है और फिर मेरे होंठ उसके फीते से ढकी हुई चूत को रेशमी कपड़ो को ऊपर से सहलाने लगे।

मैंने अलका की योनि को ढकने वाले रेशमी कपड़े को चूमा. मैंने महसूस किया उसकी पेंटी पूरी गीली थी। मैंने अपना हाथ उसकी पेंटी की डोरियों के अंदर सरका दिया और उसकी पेंटी को नीचे खींचा तो अलका ने अपने चूतड़ उठा दिए। और आखिरकार मैंने अलका को उसके सारे वैभव में देखा। उसकी योनि पर और आसपास बालों के एक भी निशान को साफ़ किया हुआ था। उसकी योनि पहले से ही सिकुड़ रही थी और उसके रस को बूंदो से उसकी योनि भीगी हुई थी।

मैंने उसकी भीगी चूत को पहले चूमा फिर उसके उभरे हुए बाहरी होंठों को चाटने लगा। अलका की चूत मेरे चुम्बन से उसकी चूत संकुचन करने लगी। मैंने अपनी जीभ को बाहर निकालते हुए, धीरे से गीली योनि के दरार की नोक पर चलाया और कुछ रसों को उसके योनि से बाहर निकलते ही चाट गया। अलका ने और अधिक की उम्मीद में अपने कूल्हे ऊपर उठा दिए।

मेरी आँखे बंद हो गयी और मैंने अलका के चूतरस का स्वाद लिया। जब मैंने अपने आँखों को फिर से खोला, तो मेरी आँखों में एक इच्छा थी जो अलका ने पहले नहीं देखी थी। मैंने अपनी जीभ को इसके चूत के दाने के चारों ओर घुमाया और धीरे-धीरे उसे छेड़ दिया।

"हे भगवान!"अलका कराह उठी। हाथो से अपने स्तनों को सहलाते हुए कहने लगी"तुमने कैसी आग लगा दी है अब जल्दी कुछ करो"।

मैंने उसकी चूत पे अपने होंठों को टिकाया और धीमे-धीमे चौड़े झटके में चाटने लगा। अल्का ने अपने पैरों को और भी फैला दिया उसने अपने निप्पलों की मसला और परमानंद में डूब गई।

उसकी चूत से निकलती संचित रस को निगलते हुए, मैंने अपनी उंगलियों से उसकी योनि की ओंठो को जुदा किया और उसकी अंदरूनी सिलवटों को चाटना शुरू कर दिया। मुझे लगा अब तरसाने का समय खत्म हो गया। अब यह समय था जब प्रेमी अपनी काम वासना की इच्छाओं को पूरा करें। मैंने अपनी जीभ को उसकी गर्म चूत में डुबो दिया और उसकी मांसपेशियों का संकुचन अपनी जीभ के आस-पास महसूस किया। जैसे ही मैंने अपने होंठों को खोल कर, जब उसने अपनी जीभ को अंदर-बाहर किया अलका ने अपने कूल्हों को उठा कर मेरे मुंह पर खुद को धकेल दिया।

उसने अपने हाथो से मेरा सर पकड़ा और मेरे चेहरे को अपनी चूत में अपनी पूरी ताकत के साथ चिपका लिया। मैं चाटना जारी रखा जिससे उसके बदन में तीव्र आनंद की लहर दौड़ गयी। उसके कूल्हे मेरा मुंह पीस रहे थे , उसका रस मेरे चेहरे पर फ़ैल रहा था। और वह बिस्तर पर गिर गई। उसके दिल के धड़कन की गति बहुत तेज हो गयी थी। अलका ने कभी इस रात की ऐसी कल्पना नहीं की थी, न ही ऐसी तीव्रता या आनंद या परमानंद की। उसके शरीर पहले काम्पा फिर अकड़ा और फिर निढाल हो गया मैं धीरे से ऊपर हुआ और उसे लिप किश करने लगा। उसने मेरे होठों पर लगे अपने रस का स्वाद चखा।

अलका को उसके कामुक आनंद में देखकर मैंने उसे अपनी बाँहों में पकड़ लिया और उसे किस किया। मेरा लंड अब उत्तेजना के चार्म पर पहुँचने वाला था। अल्का ने अपनी जांघ पर मेरे लंड की कठोरता महसूस की और मुस्कुराई। उसका हाथ नीचे पहुंच गया और उसने उंगलियों के साथ लंड की ढूंढते हुए बड़ी नाज़ुकता से पकड़ लिया और उधर मेरे ओंठो को बड़े प्रेम से चूमा। उसने धीरे से मेरे लंड को कस के पकड़ लिया।

अलका ने नेट पर पहले भी लंड की तस्वीरें देखी थीं, लेकिन असली चीज़ उससे बहुत बेहतर थी। वह बस उसे देखती रही थी और धीरे से छोड़ा तो लंड ऊपर को फुदका तो उसने ऊपर उसे फिर पकड़ लिया। उसने अपनी उंगलियों को शाफ्ट के चारों ओर लपेटा और उसे वह एकदम गर्म रोड जैसा महसूस हुआ। उसने जिज्ञासा और कामुकता के मिश्रण के साथ हाथ को लंड के ऊपर नीचे किया।

फिर वह बोली ये तो काफी बड़ा और सख्त है। मेरी तो बहुत छोटी सी है . ये अंदर चला तो जाएगा . मुझे बहुत दर्द होगा मैं सह नहीं पाऊँगी।तो मैंने कहा नहीं मेरी रानी ये तो प्यार का औजार है और कितनी भी छोटी योनि क्यों न हो अपने प्रेमी के लिय जगह बना ही लेती है। और ये दर्द तो पहली बार ही होता है और एकदिन हर लड़की जो प्यार से कामसुख आनद पाना चाहती है उसे इसे एक बार तो गुजरना ही पड़ता है। और फिर मैं बहुत आराम से करूंगा।

उसके हाथ के स्पर्श से मेरा लंड भड़क गया और अलका ने अपनी उंगलियों को उसकी चारों ओर लपेट दिया और धीरे-धीरे उसे पंप करना शुरू कर दिया था। फिर उसने लंड को चूत के छेद पर ले गयी और चुत के दाने को लंड से घिसा। मुझे लग गया अब लंबे समय तक रुकने और इंतजार करने की कोई वजह नहीं थी क्योंकि अलका अब बिलकुल त्यार लग रही थी।

"प्लीज, अब मुझे चाहिए,"उसने विनती की।".

मैंने देखा कि अलका अभी भी मेरे लंड को देख रही है। चेहरे पर मुस्कान के साथ, मैंने उसके नग्न शरीर को अपनी छाती से चिपका लिया। उसके स्तन मेरी छाती पर दब गए और मेरा लंड उसकी चूसी हुई चूत को चुम्बन करने लगा। मैं उसकी आँखों में देख रहा था तो उसके बाल मेरे चेहरे पर आ रहे थे, और उसे एहसास हुआ कि वह मुझसे कितना प्यार करती है। अलका ने मेरी आँखों में भी गर्मजोशी देखी, जिसे देख उसका दिल और भी पिघल गया। वह अब मेरी थी मुझे पूर्णतया समर्पित।

"आई लव यू ,"दोनों ने उसी समय एक साथ कहा। यह महसूस करते हुए कि अब तक दोनों के बीच क्या हुआ, कुछ मुस्कराए और फिर से चूमा और दोनों अपने प्रेमी के मुंह में अपना रस चख रहे थे। चुंबन नरम, रोमांटिक, एक दूसरे के लिए प्यार से भरे थे। मैंने अलका के बाल एक तरफ किये और भारतीय संस्कृति के संकेत के अनुरूप , फिर से उसके माथे चूमा,। अल्का ने मेरे सीने पर अपना सिर टिका दिया, और मैंने उसका नाम पुकारा।

अलका मैं बहुत खुशकिस्मत हूँ के आप मुझे मिली।

अलका ने मेरी छाती को चूमा और फुसफुसाए,"इस के लिए धन्यवाद।"

मैंने धीरे से अपनी उँगलियाँ की और अलका की नंगी पीठ पर ऊपर नीचे की मेरी उंगलियाँ उसकी रीढ़ की हड्डी के एक एक मनके को महसूस करते हुए धीरे से उसके नितम्बो की दरार में से होते हुए उसके नितम्बो पर दबाव डाला तो अलका ने आहें भरी। उसकी उंगली उसके गोल नरम पर सुदृढ़ नितम्बो पर गोल घूमी फिर नितम्बो को सहलाया।

ऐसा करने से मेरा लंड उत्तेजना की ताजा स्थिति के रूप में उठा और उसकी योनि का दरवाजा खटखटाने लगा।. मेरी उंगलियों ने उसकी योनि की दरार को महसूस किया फिर धीरे से एक फिर दूसरी अंदर सरका दी मेरी ऊँगली का अग्रभाग उसके रस से डूब गया।

फिर मैंने उंगलिया ऊपर नीचे की और उंगलियों की मदद से दरार की थोड़ा फैलाया और लंड मुंड का अगर भाग दुसरे हाथ से लंड की पकड़ कर दरार पर रगड़ कर अलका की चूत की छेद की द्वार पर लगा दिया। अब वो सिसकारियाँ मारने लग गई थी। अब वो अहाह! आहहह! आहहह! कर रही थी। अब उसके ऐसा करने से मेरे लंड में भी सनसनी होने लगी थी।

उन्होंने मुझे कस कर पकड़ लिया उसका गोरा बदन सुर्ख लाल हो गया।

मेरी उंगली ने धीरे से उसकी योनि के गीले होठों की मालिश की, मेरी उंगली धीरे-धीरे उसकी चुत के अंदर गोलाई को धीमे-धीमे घूमने लगी. मेरी उसकी उंगली धीरे-धीरे उसकी चूत में घुस गई और अलका की मेरे मुँह में किस करते हुए एक आह निकली।

आगे क्या हुआ -- ये कहानी जारी रहेगीl

आपका दीपक

द्वितीय अध्याय
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Dehradun Escort Girls Himanshi34 0 3 18 minutes ago
Last Post: Himanshi34
  पड़ोसियों के साथ एक नौजवान के कारनामे deeppreeti 74 215,769 11-20-2022, 10:27 PM
Last Post: aamirhydkhan
  जिंदगी बवाल है! the satisfiyer 2 7,681 11-20-2022, 07:32 PM
Last Post: seema.singh2003
  Jindāgee - BåwaaL håī the satisfiyer 3 1,899 11-02-2022, 03:16 PM
Last Post: the satisfiyer
  Meri bibi ke chudai ne full stories Devilian saha 176 71,588 11-02-2022, 03:14 PM
Last Post: newwtouchh
  खाला की चुदाई के बाद आपा का हलाला aamirhydkhan 48 137,356 10-26-2022, 12:12 PM
Last Post: aamirhydkhan
  Na school lo jarigina idaru amayilani balavantanga anubavinchina teachers and nenu 3 Kalyani.siri 0 3,994 10-02-2022, 04:32 AM
Last Post: Kalyani.siri
  Ye kaisa sanjog sexstories 14 56,432 09-02-2022, 06:56 PM
Last Post: lovelylover
Information Sassy Poonam viral MMS Rakeshmr 0 11,202 08-07-2022, 05:29 PM
Last Post: Rakeshmr
  बिना शादी के सुहागरात ! sakshiroy123 1 39,837 07-06-2022, 02:50 PM
Last Post: fuqay



Users browsing this thread: Himanshi34, 1 Guest(s)