Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
10-18-2020, 01:22 PM,
#1
Lightbulb  Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
कत्ल की पहेली

Chapter 1
बोरीबन्दर के इलाके में वो एक बार था जो कि सेलर्स क्लब के नाम से जाना जाता था । उस जगह का बम्बई के वैसे हाई क्लास ठिकानों से कोई मुकाबला नहीं था लेकिन हाई क्लास ठिकानों जैसा तमाम रख-रखाव - जैसे बैंड की धुन पर अभिसार के गीत गाने वाली हसीना पॉप सिंगर, चायनीज, कन्टीन्टल, मुगलई खाना - अलबत्ता वहां बराबर था । जगह बन्दरगाह से करीब थी इसलिये रात को वो खचाखच भरी पायी जाती थी ।

उस घड़ी रात के बारह बजे थे जब कि क्लब के धुएं से भरे हाल में बैंड बज रहा था, बैंड की धुन पर वहां की पॉप सिंगर डॉली टर्नर भीड़ और कदरन शोर-शराबे से बेखबर मशीनी अंदाज में अपना अभिसार का गीत गा रही थी - गा क्या रही थी गाने की औपचारिकता निभा रही थी, गाने के बदले में क्लब के मालिक से मिलने वाली फीस को जस्टीफाई कर रही थी - और मालिक अमर बैंड स्टैण्ड के करीब एक खम्बे के सहारे खड़ा बड़े ही अप्रसन्न भाव से उसे देख रहा था ।

नहीं चलेगा । - वो मन-ही-मन भुनभुना रहा था - कैसे चलेगा ! साली उल्लू बनाना मांगती है । मैं नहीं बनने वाला । कैसे बनेगा ! नहीं बनेगा ।

डॉली एक खूबसूरत, नौवजान लड़की थी लेकिन मौजूदा माहौल में ऐसा नहीं लगता था कि उसे अपनी खूबसूरती, अपनी नौजवानी, या खुद अपने आप में कोई रुचि थी ।

बैंड स्टैण्ड के करीब की एक टेबल पर चार व्यक्ति बैठे थे जिनमें से एक एकाएक मुंह बिगाड़कर बोला - “साली फटे बांस की तरह गा रही है ।”

“बाडी हाईक्लास है ।” - दूसरा अपलक डॉली को देखता हुआ लिप्सापूर्ण स्वर में बोला - “नई ‘एस्टीम’ की माफिक । चमचम । चमचम ।”

“सुर नहीं पकड़ रही ।”

“बनी बढिया हुई है ।” - तीसरा बोला ।

“गला ठीक नहीं है ।”

“क्या वान्दा है !” - दूसरा फिर बोला - “बाकी सब कुछ तो ऐन फिट है । फिनिश, बम्फर, हैंडलाइट्स...”

“टुन्न है ।”

“इसीलिये” - चौथा बोला - “हिल बढिया रही है ।”

“लेकिन गाना...”

“सोले टपोरी ।” - दूसरा झल्लाकर बोला - “गाना सुनना है तो जा के रेडियो सुन, टेप बजा, तवा चला । इधर काहे को आया ?”

“मैं बोला इसका दिल नहीं है गाने में ।”

“गाने में नहीं है न ! लेकिन जिस कन्टेनर में है, उसे देखा ! उसकी बगल वाले को भी देखा ! दोनों को देख । क्या साला, मर्सिडीज की हैडलाइट्स का माफिक...”

तभी बैंड बजना बंद हो गया और डॉली खामोश हो गयी । कुछ लोगों ने बेमन से तालियां बजायीं जिन के जवाब में डॉली ने उस से ज्यादा बेमन से तनिक झुककर अभिवादन किया और फिर स्टेज पर से उतरकर लम्बे डग भरती हुई हाल की एक पूरी दीवार के साथ बने बार की ओर बढी ।

अमर खम्बे का सहारा छोड़कर आगे बढा । डॉली करीब पहुंची तो उसने आग्नेय नेत्रों से उसकी तरफ देखा ।

केवल एक क्षण को डॉली की निगाह अपने एम्पलायर से मिली, न चाहते हुए भी उसके चेहरे पर उपेक्षा के भाव आये और फिर वो बदस्तूर अपनी मंजिल की ओर बढती चली गयी ।

पहले से अप्रसन्न अमर और भड़क उठा । वो कुछ क्षण ठिठका खड़ा रहा और फिर बड़े निर्णायक भाव से डॉली के पीछे बार की ओर बढा ।

“कमल ! माई लव !” - डॉली बार पर पहुंचकर बारमैन से सम्बोधित हुई - “गिव मी ए लार्ज वन ।”

“यस, बेबी ।” - बारमैन उत्साहपूर्ण स्वर में बोला, फिर उसे डॉली के पीछे अमर दिखाई दिया तो उसका लहजा जैसे जादू के जोर से बदला - “यस, मैडम । राइट अवे, मैडम ।”

बारमैन ने उसके सामने विस्की का गिलास रखा और सोडा डाला । फिर उसने सशंक बढकर डॉली के पहुंचा और बोला - “ये ड्रिंक मेरी तरफ से है । कमल ! क्या !”

“यस, बॉस ।” - कमल बोला - “ऑन दि हाउस ।”

“मैडम से फेयरवैल ड्रिंक का पैसा नहीं लेने का है ।”
Reply

10-18-2020, 01:22 PM,
#2
RE: Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
डॉली का गिलास के साथ होंठों की ओर बढता हाथ ठिठका, उसने सशंक भाव से अमर की ओर देखा ।

“क्या बोला ?” - वो बोली ।

“अभी कुछ नहीं बोला । अभी बोलता है ।” - वो कमल की तरफ घूमा - “कमल !”

“यस, बॉस !”

“गल्ले में से दो हजार रुपये निकाल ।”

बारमैन ने गल्ले में से पांच-पांच सौ के चार नोट निकाले और अमर के इशारे पर उन्हें डॉली के सामने एक ऐश-ट्रे के नीचे रख दिया ।

“अब बोलता है ।” - अमर बोला - “अभी वीक का दूसरा दिन है । फुल वीक का पैसा तेरे सामने है । अब मैं तेरे को फेयरवैल बोलता है ।”

“अमर, तू मेरे को, अपनी डॉली को, इधर से नक्की होना मांगता है ?”

“हमेशा के लिये । मैं इधर बेवड़ा पॉप सिंगर नहीं मांगता । इधर तेरा काम गाना है, ग्राहकों का काम पीना है । मैं तेरे को अपना काम छोड़कर ग्राहकों का काम करना नहीं मांगता । इसलिये फेयरवैल । गुडबाई । अलविदा । दस्वीदानिया ।”

“ऐसा ?”

“हां, ऐसा ।”

“ठीक है ।” - डॉली ने एक ही सांस में अपना गिलास खाली किया - “अपुन भी इधर गाना नहीं मांगता । अपुन भी इधर तेरे फटीचर क्लब में अपना गोल्डन वायस खराब करना नहीं मांगता ।”

“फिर क्या वान्दा है ! फिर तो तू भी अलविदा बोल ।”

“बोला ।” - उसके अपना खाली गिलास कमल की तरफ सरकाया जिसमें झिझकते हुए कमल ने फिर जाम तैयार कर दिया - “और अपुन तेरा फ्री ड्रिंक नहीं मांगता । कमल !” - उसने ऐश-ट्रे समेत दो हजार के नोट कमल की तरफ सरका दिये - “ये ड्रिंक्स का पैसा है । बाकी का रोकड़ा मैं तेरे को टिप दिया । मैं । डॉली टर्नर । क्या !”

बारमैन ने उलझनपूर्ण भाव से पहले डॉली को और फिर अपने बॉस की तरफ देखा ।

“मेरे को क्या देखता है ?” - अमर भुनभुनाया - “इसका रोकड़ा है । चाहे गटर में डाले, चाहे तेरे को टिप दे ।”

“यस ।” - डॉली दूसरा जाम भी खाली करने के उपक्रम में बोली - “अपुन का रोकड़ा है । अपुन कमाया । अपुन साला इधर अक्खी रात गला फाड़-फाड़कर कमाया । अपुन इसे गटर में डाले, चाहे टिप दे । अपुन कमल को टिप दिया । कमल !”

“यस, मैडम ।”

“अपुन क्या किया ?”

“मेरे को टिप दिया ।”

“तो फिर रोकड़ा इधर क्या करता है ?”

“पण, मैडम...”

“ज्यास्ती बात नहीं मांगता । अपुन इधर कभी तेरे को टिप नहीं दिया । आज देता है । आज पहली और आखिरी बार इधर अपुन तेरे को टिप देता है । और तेरे को गुडबाई बोलता है । तेरे को कमल, तेरे बॉस को नहीं । क्या !”

कमल ने सहमति में सिर हिलाया लेकिन नोटे की तरफ हाथ न बढाया ।

“कमल ?” - डॉली भर्राये कण्ठ से बोली - “तू अपुन का दिल रखना नहीं मांगता ?”

कमल ने हौले से ट्रे के नीचे से नोट खींच लिये ।

“दैट्स लाइक ए गुड ब्वाय ।” - डॉली हर्षित स्वर में बोली ।

“डॉली” - अमर ने हौले से उसके कन्धे पर रखा और कदरन जज्बाती लहजे से बोला - “तू सुधर क्यों नहीं जाती ?”

डॉली ने तत्काल उत्तर न दिया । उसने गिलास से विस्की का एक घूंट भरा और धीरे से बोली - “अब उम्र है मेरी सुधरने की !”

“क्या हुआ है तेरी उम्र को ? बड़ी हद बत्तीस होगी ।”

“उनत्तीस । ट्वन्टी नाइन ।”

“तो फिर ?”

“तो फिर ?” - डॉली ने दोहराया - “तो फिर ये ।”

उसने एक सांस में अपना विस्की का गिलास खाली कर दिया ।

अमर ने असहाय भाव से गरदन हिलायी और फिर बदले स्वर में बोला - “लॉकर की चाबी पीछे छोड़ के जाना ।”

वो बिना डॉली पर दोबारा निगाह डाले लम्बे डग भरता वहां से रूख्सत हो गया ।

डॉली भी वहां से हटी और पिछवाड़े में उस गलियारे में पहुंची जहां क्लब के वर्करों के लिये लॉकरों की कतार थी । उसने चाबी लगाकर अपना लॉकर खोला और फिर वहीं अपना सलमे सितारों वाला झिलमिल करता स्किन फिट काला गाउन उतारकर उसकी जगह एक जीन और स्कीवी पहनी । लॉकर का सारा सामान एक बैग में भरकर उसने बैग सम्भाला और पिछवाड़े के रास्ते से ही क्लब की इमारत से बाहर निकल गयी । इमारत के पहलू की एक संकरी गली के रास्ते इमारत का घेरा काटकर वो सामने मुख्य सड़क पर पहुंची ।
Reply
10-18-2020, 01:22 PM,
#3
RE: Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
रोशनियों से झिलमिलाती उस सड़क पर आधी रात को भी चहल-पहल की उसके लिये क्या अहमियत थी ! वो तो भीड़ में भी तनहा थी ।

बैग झुलाती वो फुटपाथ पर आगे बढी ।

“डॉली !”

वो ठिठकी, उसने घूमकर पीछे देखा ।

बारमैन, कमल उसकी तरफ लपका चला आ रहा था ।

डॉली असमंजसपूर्ण भाव से उसे देखती रही ।

कमल उसके करीब आकर ठिठका ।

“क्या बात है ?” - डॉली बोली ।

“मैं सोचा था” - कमल तनिक हांफता हुआ बोला - “कि तू बार पर से होकर जायेगी । मैं तेरे वास्ते ड्रिंक तैयार करके रखा । वन फार दि रोड । लास्ट वन फार दि रोड ।”

“ओह ! हाऊ स्वीट ! बट नैवर माइन्ड । आई हैड ऐनफ । रादर मोर दैन ऐनफ । जरूरत से ज्यादा । तभी तो नौकरी गयी ।”

“अब तू क्या करेगी ?”

“पता नहीं ।”

“कहां जायेगी ?”

उसे उस टेलीग्राम की याद आयी जो उसे शाम को मिली थी और जिसे वो पता नहीं कहां रख के भूल गयी थी । ‘माई डियर डार्लिंग डॉली’ से शुरु होकर जो ‘ओशंस एण्ड ओशंस ऑफ लव फ्रॉम युअर बुलबुल’ पर जाकर खत्म हुई थी ।

“गोवा ।” - वो बोली ।

“कब ?” - कमल बोला ।

“फौरन ।”

“वहां क्या है ? कोई नयी नौकरी ?”

“नहीं ।”

“तो ?”

“पुरानी यादों के खंडहर । खलक खुदा का । हुक्म बादशाह का ।”

“बादशाह !”

“और मैं रिआया । चन्द दिन की मौजमस्ती, चन्द दिन की रंगरेलियां । फिर वही अन्धेरे बन्द कमरे, तनहा सड़कें, बेसुरे गाने, हारी-थकी गाने वाली और फेयरवैल ड्रिंक ।”

“तेरी बातें मेरी समझ से बाहर हैं । पण मैं गॉड आलमाइटी से तेरे लिये दुआ करेगा । मैं इस सन्डे को चर्च में तेरे वास्ते कैंडल जलायेगा । आई विश यू आल दि बैस्ट इन युअर कमिंग लाइफ । आई विश यु ए हैप्पी जर्नी, डॉली ।”

“ओह, थैंक्यू । थैंक्यू सो मच, कमल । मुझे खुशी हुई ये जानकर कि मेरे लिये विश करने वाला कोई तो है इस दुनिया में । थैंक्यू, कमल । एण्ड गॉड ब्लैस यू ।”

“और ये ।”

कमल ने उसकी तरफ एक बन्द लिफाफा बढाया ।

“ये क्या है ?” - डॉली सशंक भाव से बोली ।

“कुछ नहीं । गुड बाई, डॉली । एण्ड गुड लक ।”

वो घूमा और लम्बे डग भरता हुआ वापिस क्लब की ओर बढ गया ।

डॉली तब तक उसे अपलक देखती रही जब तक कि वो क्लब में दाखिल होकर उसकी निगाहों से ओझल न हो गया । फिर उसने हाथ में थमे लिफाफे को खोला और उसके भीतर झांका ।

लिलाफे में पांच-पांच सौ के चार नोट थे ।

आंसुओं की दो मोटी-मोटी बूंदें टप से लिफाफे पर टपकीं ।
Reply
10-18-2020, 01:22 PM,
#4
RE: Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
कनाट प्लेस की एक बहुखंडीय इमारत की दूसरी मंजिल पर वो अत्याधुनिक, वातानुकूलित ऑफिस था जो कि कौशल निगम का लक्ष्य था । हमेशा की तरह वो ऑफिस के शीशे के प्रवेशद्वार पर ठिठका जिस पर सुनहरे अक्षरों में अंकित था -
एशियन एयरवेज
ट्रैवल एजेन्ट्स एण्ड टूर ऑपरेटर्स
एन्टर

वो ऑफिस ज्योति निगम को मिल्कियत था जिसका कि वो लाडला पति था ।

एक कामयाब, कामकाजी महिला का निकम्मा, नाकारा पति ।

ज्योति उसका वहां आना पसन्द नहीं करती थी लेकिन आज उसके पास उस टेलीग्राम की सूरत में बड़ी ठोस वजह थी जो कि निजामुद्दीन में स्थित उनके फ्लैट पर उस रोज ज्योति की गैरहाजिरी में पहुंची थी ।

वो ऑफिस में दाखिल हुआ । रिसैप्शनिस्ट को नजरअन्दाज करता हुआ वो ऑफिस के उस भाग में पहुंचा जहां एशियन एयरवेज की मैनेजिंग डायरेक्टर ज्योति निगम का निजी कक्ष था ।

“मैडम बिजी हैं ।” - ज्योति की प्राइवेट सैक्रेट्री उसे देखते ही सकपकायी-सी बोली ।

“हमेशा ही होती हैं ।” - कौशल बोला और रिसैप्शनिस्ट के मुंह खोल पाने से पहले वो दरवाजा खोलकर भीतर दाखिल हो गया जिस पर कि उसकी बीवी के नाम के पीतल के अक्षरों वाली नेम प्लेट लगी हुई थी ।

ज्योति फोन पर किसी से बात करने में व्यस्त थी ।

कौशल उसकी कुर्सी के पीछे पहुंचा और बड़े दुलार से उसके भूरे रेशमी बालों में उंगलियां फिराने लगा । ज्योति ने अपने खाली हाथ से उसके हाथ परे झटके और अपनी विशाल टेबल के आगे लगी विजिटर्स चेयर्स की तरफ इशारा किया । कौशल ने लापरवाही से कन्धे झटकाये और बेवजह मुस्कराता हुआ परे हटकर एक कुर्सी पर ढेर हो गया । टेलीग्राम जेब से निकालकर उसने हाथ में ले ली । फिर वो अपलक अपनी खूबसूरत बीवी का मुआयना करने लगा जो कि उसी की उम्र की, लगभग तीस साल की, साढे पांच फुट से निकलते कद की, छरहरे बदन वाली गोरी-चिट्टी युवती थी । उसके चेहरे पर एक स्वाभाविक रोब था जो - सिवाय कौशल के - हर किसी पर अपना असर छोड़ता था ।

खुद कौशल भी कम आकर्षक व्यक्तित्व का स्वामी नहीं था । फैशन माडल्स जैसी उसकी चाल थी और फिल्म स्टार्स जैसा वो खूबसूरत था लेकिन अपनी पोशाक के मामले में वो आदतन लापरवाह रहता था । उस घड़ी भी वो एक घिसी हुई जीन और गोल गले की काली टी-शर्ट के साथ उससे ज्यादा घिसी हुई बिना बांहों की जैकेट पहने था ।

ज्योति ने रिसीवर फोन पर रखा और उसकी तरफ आकर्षिक होती हुई अप्रसन्न भाव से बोली - “यहां क्यों चले आये ? मैंने कितनी बार बोला है कि...”

“जरूरी था, हनी ।” - कौशल मीठे स्वर में बोला ।

“जरूरी था तो हुलिया तो सुधार के आना था । ढंग के कपड़े तो पहनकर आना था ।”

“टाइम कहां था ! ये अर्जेंट टेलीग्राम थी तुम्हारे नाम । मिलते ही दौड़ा चला आया मैं यहां ।”

“टेलीग्राम !”

“अर्जेंट । हेयर ।”

ज्योति ने उसके हाथ से टेलीग्राम का लिफाफा ले लिया जो कि खुला हुआ था । उसने घूरकर अपने पति को देखा ।

“मैंने नहीं खोला ।” - कौशल जल्दी से बोला - “पहले से ही खुला था । ऐसे ही आया था ।” - उसने अपने गले की घण्टी को छुआ - “आई स्व‍ियर ।”

ज्योति को उसकी बात पर रत्ती-भर भी विश्वास न आया लेकिन उसने उस बात को आगे न बढाया । उसने लिफाफे में से टेलीग्राम का फार्म निकाला और सबसे पहले उस पर से भेजने वाले का नाम पढा । तत्काल उसके चेहरे पर बड़ी मधुर मुस्कराहट आयी । फिर उसने जल्दी-जल्दी टेलीग्राम की वो इबारत पढी जिसे कि वो सालों से पढती आ रही थी । केवल आखिरी फिकरा उस बार तनिक जुदा था जिसमें लिखा था: ‘आगमन की पूर्वसूचना देना ताकि मैं पायर से तुम्हें पिक करने के लिये गाड़ी भिजवा सकूं । विद माउन्टेंस आफ लव, यूअर्स बुलबुल’ ।
Reply
10-18-2020, 01:23 PM,
#5
RE: Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
“फिदा है तुम पर ।” - कौशल धीरे-से बोला ।

“कौन ?” - ज्योति टेलीग्राम पर से सिर उठाती हुई बोली ।

“बुलबुल ।”

“यानी कि टेलीग्राम पढ चुके हो ?”

“खुली थी इसलिये गुस्ताखी हुई ।”

“जब पढ ही ली थी तो यहां दौड़े चले आने की क्या जरूरत थी ? फोन पर मुझे भी पढकर सुना देते ।”

“फोन खराब था ।”

“अच्छा ।”

“यू नो दीज महानगर निगम टेलीफोन्स । अपने आप बिगड़ जाते हैं, अपने आप चले पड़ते हैं ।”

“आटोमैटिक जो ठहरे ।” - ज्योति व्यंग्यपूर्ण स्वर में बोली ।

“वही तो ।” - वो एक क्षण ठिठका और फिर बोला - “इस आदमी का तो जुनून बन गया है पार्टियां देना ।”

“हां । लेकिन उसकी ये गोवा की पार्टी कम और पुनर्मिलन समारोह ज्यादा होता है ।”

“हर साल । सालाना प्रोग्राम । जिसमें कि तुम हमेशा शामिल होती तो ।”

“अब तक तो ऐसा ही था लेकिन अपनी मौजूदा मसरूफियात में लगता नहीं कि इस बार मैं गोवा जाने के लिये वक्त निकाल पाऊंगी ।”

“क्यों नहीं निकाल पाओगी ? जरूर निकाल पाओगी । निकालना ही पड़ेगा । हर वक्त काम काम काम काम भी ठीक नहीं होता । वो ‘आल वर्क एण्ड नो प्ले’ वाली मसल सुनी है न तुमने ?”

“हां ।” - वो अनमने स्वर में बोली ।

“तुम्हें जरूर आना चाहिये । इसी बहाने चन्द रोज की तफरीह हो जायेगी और... पुनर्मिलन भी हो जायेगा ।”

“किस से ?”

“मेहमानों से । मेजबान से ।”
“विकी, तुम भूल रहे हो कि बुलबुल सतीश छप्पन साल का है ।”
“आई अन्डरस्टैण्ड । वो छप्पन का हो या छब्बीस का, यू मस्ट गो ।”
“मेरी तफरीह में तुम्हारी कुछ खास ही दिलचस्पी लग रही है ।”
“खास कोई बात नहीं ।”
“कहीं ऐसा तो नहीं कि मुझे तफरीह के लिए भेजकर तुम पीछे खुद तफरीह करने के इरादे रखते होवो ।”
“कैसी तफरीह ?”
“वैसी तफरीह जिसके लिये मुझे यकीन है तुम कम-से-कम कोई छप्पन साल की औरत नहीं चुनोगे ।”
“ओह नो । नैवर ।”
“ऐसा कोई इरादा हो तो एक वार्निंग याद रखना । मैं बड़ी हद सोमवार तक वापिस आ जाऊंगी ।”
“जब मर्जी आना । मैं खुद ही तुम्हारी गैर-हाजिरी में यहां नहीं होऊंगा ।” - वो एक क्षण ठिठका और बोला - “कर्टसी माई लविंग वाइफ ।”
“क्या मतलब ? कहीं तुम्हें भी तो कहीं किसी बुलबुल का बुलावा नहीं है ?”
“नो सच थिंग । वो क्या है कि अख्तर ने आज आगरे से फोन किया था ।”
“किस बाबत ?”
Reply
10-18-2020, 01:23 PM,
#6
RE: Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
“उस टयोटा की बाबत जिसका मैंने तुमसे जिक्र किया था । वाइट टयोटा । एक्सीलेंट कंडीशन । वैरी लो माइलेज । ओनर ड्रिवन । ऐज, गुड ऐज न्यू । लॉट आफ असेसिरीज । कीमत सिर्फ छ: लाख रुपये ।”
“छ... छ: लाख !”
“मालिक पौने सात मांगता था । अख्तर ने बड़ी मुश्क‍िल से छ: पर पटाया है ।”
“लेकिन छ:...”
“मैं कुछ नहीं जानता । मुझे ले के दो ।” - कौशल ने यूं मुंह बिसूरा जैसे कोई बच्चा किसी पसन्दीदा खिलौने के लिये मचल रहा हो ।
“अच्छी बात है ।”
“ओह डार्लिंग” - कौशल उछलकर कुर्सी से उठा और बांहें फैलाया उसकी तरफ बढा - “यू आर ग्रेट । आई लव यू । आई...”
“खबरदार ! वहीं बैठे रहो ।”
कौशल के जोश को ब्रेक लगी ।
“ये ऑफिस है । मालूम !”
“ओह !”
“सुनो । मैं चाहती हूं कि तुम अभी भी अपने फैसले के बारे में फिर से सोच लो । तुम जानते हो कि मौजूदा हालात में हम वो कार अफोर्ड नहीं कर सकते ।”
“यानी कि तुम मुझे अफोर्ड नहीं कर सकतीं !”
“वो बात नहीं लेकिन वो क्या है कि...”
“क्या है ?”
“कुछ नहीं ।”
“डार्लिंग, मुझे पूरा यकीन है कि तुम मुझे मायूस नहीं करोगी । नहीं करोगी न !”
“यानी कि अपनी जिद छोड़ने को तैयार नहीं हो ?”
“मेरी जिद की क्या कीमत है !” - वो यूं बोला जैसे अभी रो देने लगा हो - “लेकिन तुम इनकार करोगी तो मेरी जिद तो अपने आप ही छूट जायेगी । लेकिन फिर मेरा तुम्हें चान्दनी, रात में चान्दनी जैसे सफेद टयोटा पर आगरा घुमाकर लाने का सपना भी टूट जायेगा और फिर...”
“ओके । ओके । मैं करती हूं कोई इन्तजाम ।”
“आज ही ?”
“हां, भाई । आज ही ।”
“बढिया । फिर तो मैं कल सुबह सवेरे ही आगरे के लिए रवाना हो जाऊंगा और फिर हमारी सफेद टयोटा पर मैं सीधा गोवा तुम्हारे पास पहुचूंगा और आगरे के ही रास्ते - आई रिपीट, आगरे के ही रास्ते - शाहजहां और मुमताज महल को विशी-विशी करते तुम्हें वापिस लेकर आऊंगा । हमारी सफेद टयोटा पर । नो ?”
“यस ।” - ज्योति उत्साहहीन स्वर में बोली ।
“डार्लिंग, आई लव यू । आई अडोर यू । आई वरशिप दि ग्राउन्ड यू वाक आन ।”
***
Reply
10-18-2020, 01:23 PM,
#7
RE: Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
बैंगलोर एयरपोर्ट के वेटिंग लाउन्ज के एक कोने में भुनभुनाती-सी शशिबाला बैठी थी और बार-बार बेचैनी से पहलू बदल रही थी । उसकी बगल में एक ठिगना-सा, लम्बे बालों वाला और बड़े-बड़े शीशों वाले चश्मे वाला, सिग्रेट के कश लगाता एक व्यक्ति बैठा था जो कि लोकेशन शूटिंग पर बम्बई से बैंगलौर आयी शशिबाला का सैक्रेट्री था ।
शशिबाला हिन्दी फिल्मों की मशहूर हीरोइन थी ।
जिस प्लेन के इन्तजार में वो बैठे थे, उसने गोवा से आना था और फिर तत्काल लौटकर गोवा जाना था । प्लेन अभी गोवा से ही नहीं आया था इसलिये जाहिर था कि उसकी रिटर्न फ्लाइट काफी लेट होने वाली थी जिसकी वजह से कि शशिबाला का मूड उखड़ा जा रहा था ।
“आ गया ।” - एकाएक सैक्रेट्री बोला ।
“कौन ?” - हीरोइन भुनभुनायी ।
“प्लेन । अब बड़ी हद आधा घण्टा और लगेगा ।”
“शुक्र है ।”
“पीछे शूटिंग का हर्जा होगा ।”
हीरोइन के गुलाब की पंखड़ियों से खूबसूरत होंठों से भद्दी गाली निकली ।
“गोवा जाना टल नहीं सकता ?”
“नहीं । पहले ही बोला । सौ बार ।”
“ये सतीश तुम्हारा कोई सगेवाला निकल आया मालूम पड़ता है ।”
“हां । बाप है मेरा । हाल ही में पता चला ।”
वो हंसा ।
“हंसो मत ।” - हीरोइन डपटकर बोली ।
सैक्रेट्री की हंसी को तत्काल ब्रेक लगी । वो एक क्षण ठिठका और फिर बोला - “बाप है या बड़ा बाप है ?”
“बड़ा बाप ?”
“शूगर डैडी ?”
“वो कौन हुआ ?”
“वाह मेरी भोली मलिका । फिल्मों की दुनिया में बसती हो । बड़ा बाप नहीं जानतीं । शूगर डैडी नहीं जानतीं ।”
“धरम” - वो उसे घूरती हुई बोली - “तुम मेरा इम्तहान ले रहो हो !”
“ओह नो, बेबी । नैवर ।”
“तो बोलो क्या फर्क हुआ ?”
Reply
10-18-2020, 01:23 PM,
#8
RE: Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
“बाप जिन्दगी देता है । बड़ा बाप उर्फ शूगर डैडी जिन्दगी को जीने लायक बनाकर देता है । गाड़ी, बंगला, बैंक बैलेंस, ऐशोइशरत से नवाजता है ।”
“ओह, शटअप । सतीश ऐसा आदमी नहीं । उसने मेरे पर क्या, कभी किसी भी लड़की पर नीयत मैली नहीं की । ही इज वैरी स्ट्रेट, वैरी आनरेबल, वैरी लवेबल ओल्डमैन । वो तो कोई पीर पैगम्बर है ।”
“चिकनी सूरत पर पीर-पैगम्बर का भी ईमान डोल जाता है ।”
“अरे, मैं कोई पहली चिकनी सूरत नहीं जो उसने देखी है । सतीश की तमाम बुलबुलें एक से एक बढकर खूबसूरत हैं । मेरे से तो यकीनन सब की सब ज्यादा खूबसूरत हैं ।”
“फिर भी हीरोइन सिर्फ तुम बनीं ।”
“इसमें मेरा क्या कमाल है ! सब बन सकती थीं । तुम्हीं कान्ट्रैक्ट लेकर उनके पीछे-पीछे घूमा करते थे । खास तौर से पायल पाटिल के पीछे । बाकी न मानीं, मैं मान गयी । वो मान जातीं तो वो भी बन जातीं ।”
“यानी कि तुम्हारे और उस बुलबुल बान्ड्रो के बीच में ऐसा-वैसा कुछ नहीं ?”
“नहीं । न है, न था, न कभी होगा ।”
“बेबी, वो तुम्हारा गॉडफादर नहीं, तुम्हारा शूगर डैडी नहीं, तुम्हारा शैदाई नहीं, फिर भी उसमें ऐसी क्या खूबी है जो कि टेलीग्राम के जरिये उसकी एक पुकार पर गोवा दौड़ी चली जाती हो । शूटिंग छोड़कर । हर साल !”
“तुम नहीं समझोगे ।”
“लेकिन शूटिंग...”
“मैं सोमवार तक लौट आऊंगी ।”
“तब तक प्रोड्यूसर मेरा कीमा बना देगा ।”
“कोई बात नहीं । मैं कोई दूसरा सैक्रेट्री ढूंढ लूंगी ।”
सैकेट्री ने आहत भाव से उसकी तरफ देखा ।
तत्काल हीरोइन के चेहरे पर एक गोल्डन जुबली मुस्कराहट आयी ।
“सारी ।” - वो अपने सैक्रेट्री का हाथ अपने हाथ में लेकर दबाती हुई बोली - “मेरा ये मतलब नहीं था । तुम जानते हो मेरा ये मतलब नहीं था ।”
“जानता हूं ।”
“ऐसे मुंह सुजाकर मत कहो । जरा हंस के बात करो अपनी हीरोइन से ।”
“जानता हूं ।” - वो यूं मुस्कराता हुआ बोला जैसे इतने से ही निहाल हो गया हो ।
“से यू लव मी ।”
“आई लव यू ।”
“टैल मी टु हैव फन ।”
“हैव लाट्स एण्ड लाट्स ऑफ फन, हनी ।”
“दिल से कहो ।”
“दिल से ही कहा है ।”
“मैं सोमवार तक हर हाल में लौट आऊंगी ।”
“बढिया ।”
“तुम्हें सतीश से जलन तो नहीं हो रही ?”
Reply
10-18-2020, 01:23 PM,
#9
RE: Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
“ज्यादा नहीं हो रही । बस उतनी ही हो रही है जितनी किसी को गोली मार देने का इरादा कर लेने के लिए काफी होती है ।”
“ओह नो । नॉट अगेन । धरम, प्लीज । नाट अगेन ।”
“मैं मजाक कर रहा था ।”
“मजाक कर रहे थे तो ठीक है ।”
“तुम्हारी फ्लाइट की अनाउन्समैंट हो रही है ।”
“शुक्र है ।”
वो उठकर खड़ी हुई तो सैक्रेट्री भी उठा । शशिबाला इतनी लम्बी थी और पिद्दी-सा सैक्रेट्री इतना ठिगना था कि आमने-सामने खड़े होने पर वो शशिबाला की ठोड़ी तक भी नहीं पहुंचता था । शशिबाला ने झुककर उसके एक गाल पर चुम्बन अंकित किया, दूसरे गाल पर चिकोटी काटी और फिर बड़े अनुरागपूर्ण भाव से उसके कान में फुसफुसाई - “सी यू, डार्लिंग ।”
फिर वो उससे परे हटकर लाउन्ज के रन वे की तरफ खुलने वाले दरवाजे की ओर दौड़ चली ।
सैक्रेट्री उदास-सा पीछे खड़ा उसे मुसाफिरों की भीड़ में विलीन होता देखता रहा ।
***
चण्डीगढ में वहां के भीड़ भरे इलाके सैक्टर सत्तरह पर स्थ्‍िात ‘लीडो’ नामक कैब्रे जायन्ट में आधी रात को वैसी ही भीड़ थी जैसी कि वहां हमेशा होती थी । जो कैब्रे डांसर ‘लीडो’ की स्टार अट्रैक्शन थी उसका असली नाम फौजिया खान था लेकिन वो वहां प्रिंसेस शीबा के नाम से जानी जाती थी और ऐन काहिरा से आयातित बतायी जाती थी । उस घड़ी स्टेज पर उसका उस रात का आखिरी डांस चल रहा था जिसमें उसके साथ तीन पुरुष-डांसर भी डांस कर रहे थे । बैंड की ऊंची धुन पर अपने सह-नर्तकों के बीच उसका गोरा, लम्बा, भरपूर जिस्म नागिन की तरह बल खाता लग रहा था । शोर-शराबे का ये आलम था कि कितनी ही बार उसमें बैंड की आवाज भी दब जाती थी । प्रिेंसेस शीबा झूम-झूमकर नाच रही थी, दर्शक तालियां बजा रहे थे, पैरों से फर्श पर बैंड के साथ थाप दे रहे थे और जोश में आपे से बाहर हुए जा रहे थे । फौजिया के उस आखिरी डांस में उसके साथ तीन युवा नर्तकों की ये भी अहमियत थी कि वो केवल नर्तक ही नहीं थे, बड़े हट्टे-कट्टे कड़ियल जवान थे जो कि किसी दर्शक के सच में ही आपे से बाहर हो जाने की सूरत में फौजिया की हर तरह से हिफाजत कर सकते थे । यानी कि रात की उस आखिरी परफारमेंस के दौरान उनका रोल सह-नर्तकों वाला कम था और बॉडी-गार्ड्स वाला ज्यादा था । नशे में या जोश में फौजिया पर झपट पड़ने वाला कोई भी शख्स वहां हाथ-पांव तुड़ा सकता था ।
Reply

10-18-2020, 01:23 PM,
#10
RE: Mastaram Kahani कत्ल की पहेली
बैंड की तेज धुन पर तेज रफ्तार डांस के दौरान फौजिया के हाथ उसकी पीठ पीछे पहुंचे और फिर उसने अपनी अंगिया उतारकर दर्शकों के बीच हवा में उछाल दी । उसके उन्नत उरोज अंगिया के बन्धन से मुक्त होते ही यूं झूमकर उछले कि दर्शकों की सांसें रुकने लगीं, आंखें फटने लगीं ।
फिर बैंड ड्रम्स के फाइनल रोल के साथ फौजिया ने कमर तक झुककर दर्शकों का अभिवादन किया और दौड़कर शनील के भारी पर्दे के पीछे पहुंच गयी । उसके सह-नर्तकों ने उसका अनुसरण किया ।
हाल तालियों की गड़गड़ाहट से गूंज उठा ।
पर्दे के पीछे वस्तुत: एक ड्रैसिंग रूम था । फौजिया ने वहां से एक तौलिया उठाया और हांफती हुई जिस्म का पसीना और चेहरे का मेकअप पोंछने लगी । उसके नग्न शरीर से न केवल वो खुद बेखबर थी उसके सह-नर्तक भी बेखबर थे । आखिर वो रोज की बात थी, रोजमर्रा का नजारा था ।
“शीबोजान” - एक नर्तक बोला - “आज तो तूने कमाल कर दिया !”
“अच्छा !” - फौजिया निर्विकार भाव से बोली ।
“आज तो बाहर हाल में सैलाब आ सकता था लोगों की टपकती लार की वजह से ।”
“यू आर रीयल हॉट स्टफ, बेबी ।” - दूसरा बोला ।
“सैन्सेशनल !” - तीसरा बोला ।
फौजिया मशीनी अंदाज से मुस्कराई और फिर कपड़े पहनने लगी ।
“प्रोपराइटर कह रहा था” - पहला बोला - “कि तू कहीं जा रही है ?”
“हां ।” - फौजिया बोली - “कुछ दिनों के लिये ।”
“वो तो होगा ही ।” - दूसरा बोला - “हमेशा के लिये क्या हम तुझे कहीं जाने देंगे ?”
“ऐसा करेगी भी” - तीसरा बोला - “तो हम भी तेरे साथ चलेंगे ।”
“कहां ?” - फौजिया विनोदपूर्ण स्वर में बोली ।
“जहां कहीं भी तू जायेगी ।”
“वैसे तू जा कहां रही है ?” - पहला उत्सुक भाव से बोला ।
“गोवा ।”
“क्यों जा रही है ?”
“वहां एक पार्टी है जिसमें मैं भी इनवाइटिड हूं ।”
“कोई खास ही पार्टी होगी !”
“हां । खास ही है ।”
“मेजबान भी खास ही होगा !”
“हां । बुलबुल सतीश । नाम सुना होगा ।”
“नहीं । कभी नहीं सुना ।”
“नैवर माइन्ड ।”
“कब जा रही है ?” - दूसरा बोला ।
Reply


Possibly Related Threads...
Thread Author Replies Views Last Post
  Rishton mai Chudai - परिवार desiaks 11 6,880 10-29-2020, 12:45 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Thriller Sex Kahani - सीक्रेट एजेंट desiaks 91 10,317 10-27-2020, 03:07 PM
Last Post: desiaks
  Behen ki Chudai मेरी बहन-मेरी पत्नी sexstories 21 293,791 10-26-2020, 02:17 PM
Last Post: Invalid
Thumbs Up Horror Sex Kahani अगिया बेताल desiaks 97 15,226 10-26-2020, 12:58 PM
Last Post: desiaks
Lightbulb antarwasna आधा तीतर आधा बटेर desiaks 47 12,040 10-23-2020, 02:40 PM
Last Post: desiaks
Thumbs Up Desi Porn Stories अलफांसे की शादी desiaks 79 6,702 10-23-2020, 01:14 PM
Last Post: desiaks
  Naukar Se Chudai नौकर से चुदाई sexstories 30 335,896 10-22-2020, 12:58 AM
Last Post: romanceking
Star Desi Sex Kahani वारिस (थ्रिलर) desiaks 63 14,077 10-18-2020, 01:19 PM
Last Post: desiaks
Star bahan sex kahani भैया का ख़याल मैं रखूँगी sexstories 264 924,232 10-15-2020, 01:24 PM
Last Post: Invalid
Tongue Hindi Antarvasna - आशा (सामाजिक उपन्यास) desiaks 48 21,637 10-12-2020, 01:33 PM
Last Post: desiaks



Users browsing this thread: 1 Guest(s)